murli 7 december 2017

TODAY MURLI 7 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 December 2017 :- Click Here

07/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t sit here and there and waste your time in useless things. Stay in remembrance of the Father and your time will then be used in a worthwhile way.
Question: Which children can glorify the Father’s name?
Answer: Those who serve in the same way as the Father. If you perform every deed in the same way as the Father, you will receive a great reward. Baba is inspiring us children to make effort in order to make us equal to Him.
Question: Who would be called introverted? How is your introversion unique?
Answer: To remain soul conscious is to be introverted. The soul inside has to listen to everything from the Father alone. To connect your intellects in yoga to only the one Father and become virtuous is your unique introversion.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, you heard the song. You heard the Father’s praise. You children are receiving the reward of the Father’s praise and you then glorify the Father’s name. However, you can only show (reveal) Him when you do the same service that He does. Such children will receive a great reward. You children now exist in the practical form. Devotees simply sing His praise. You know that BapDada is personally sitting in front of you at the confluence age. The Father would definitely tell you this through the body of Dada. You children have the firm faith that you will make effort and definitely become equal to the Father. The Father is the Purifier and the Ocean of Knowledge. You Purifiers, you Ganges of knowledge, have emerged from Him. Why is “Ganges” said? Because all of you are brides, you are all called the Ganges of knowledge. You children have the intoxication that you are following shrimat and that you can give all human beings of the world the happiness that no one else can give. The Father has now come to give everyone salvation and He gives it through you children because He is Karankaravanhar. Therefore, you definitely have to follow the shrimat of such a Father. The Father says: Whatever service someone does and to whatever extent they do service, they will accordingly receive a high reward for 21 births. However, if it is not in the fortune of some, they won’t do anything. It is very easy. Day by day, the Father continues to give very good points. The Father says: Fill your aprons as much as you want. You can tell whether you are filling your aprons very well or whether you are wasting your time. On the path of devotion you wasted a lot of time and a lot of energy. You even wasted your money and your efforts went to waste. Look how much effort they make! They do so much chanting, tapasya, giving donations, going on pilgrimages etc. All of that happens according to the drama. It is now a question of effort. Nothing can be done about that which has passed; it will repeat at its own time. The Father says: Now follow shrimat! Don’t waste your time here and there! Use your time in a very fruitful way in remembrance of the Father! There are many children who hear what the Father says with one ear and let it out through the other. Those who imbibe this very well will then also definitely serve others. They will not waste their time anywhere. There are many children who remain extroverted throughout the whole day. You children have to make effort and become introverted. The soul is inside. You have to have the faith that the Father is telling you souls: Children, you have to remain soul conscious. This is real introversion. Our way of becoming introverted is totally unique. The soul that is inside has to listen to everything from the Father. The Father repeatedly explains to you children with love. You have to learn from the mother and Father and the special brothers and sisters who do very good service, even though everyone still has a few defects in them. It is also sung: I am without virtue; I have no virtues. You children now have to become virtuous. You can only become that when your intellects are connected in yoga to the Father. Maya will make you wander around a great deal. Children continue to fall and climb up. Those who remain body conscious continue to fall. Those who remain soul conscious do not fall. They promise the Father that they will definitely do this task, that they will definitely become completely pure. You should have the firm faith inside that you will claim your full inheritance from the Father and that you will not waste your time in useless matters. You children have to do everything for the livelihood of your bodies. To renounce one’s home and family is the work of hatha yogi sannyasis. You have to look after your creation very well and also have the faith in your hearts that whatever you see with those eyes is going to be destroyed. By having attachment to those things you harm yourselves. Have attachment to only the one Father. The main thing is purity. It is because of this that there are many upheavals. There isn’t as much upheaval because of anger. The Father says: The vice of lust exists in everyone at this time. Everyone is born through vice. You can explain that you are helping to make degraded ones elevated. You children now have to become soul conscious. Remember the Purifier Father. You also call out: O Purifier come! So what would He do when He does come? Surely He would make you pure. Here, it is not a question of bathing. The Father says: Constantly remember Me alone; there is no other way. It is only with the fire of yoga that you will become pure from impure. From the iron age you will go to the golden age. This is the only way. There is no other method. There is only one medicine for all the illnesses: remembrance of the Father. It is through this that all sorrow will be removed. By remembering the Father you will also remember your inheritance. “The Father” means the inheritance. No matter how poor a physical father may be, he would definitely give you an inheritance even if it were only worth a few pennies, or even some utensils etc. Therefore, you first have to remember the Father and then the inheritance. The Father says: “Manmanabhav, madhyajibhav!” The Father is explaining to you the essence of all the Vedas and scriptures. No one else knows this essence. The Father tells you directly: Children, renounce body consciousness. You should understand that the Father is speaking to you souls. The incorporeal Father would speak to incorporeal children: You souls are listening through your ears. It is you who do everything. Under no circumstance must you children become body conscious. Consider yourselves to be souls and remember the Father. Also do service because it is with the body that you do everything. You definitely have to do that. Some even become unconscious for some time. However, that is not an aspect of knowledge. Here, you only have to make effort to remember the Father and it is in this that Maya causes a lot of obstacles. You know that you have come into the Father’s lap and so you definitely have to remember the Father. Even when you are preparing bhog you have to remember Shiv Baba. Previously, when you used to make bhog, you would remember Krishna, Rama or Guru Nanak. You used to study the Guru’s versions (Guruvani). Only when you prepared everything while you were in remembrance did it become pure. Then that practice was developed. Here, too, the practice of remembering the Father should be developed. It is definitely most essential for you to remember the Father as much as possible when preparing bhog and food. However, children don’t remember Him. You should remind one another in the kitchen to prepare the food in remembrance of Baba. By doing this, you will become firm. Those who don’t have this practice would never remember Him. There is a lot of praise of Brahma bhojan and so there must definitely be something in that. Even deities desire Brahma bhojan. Therefore, by preparing food while in remembrance, you benefit yourself and even those who come. By staying in remembrance, it enters your intellect that you are claiming your inheritance from Shiv Baba. However, children don’t remember Him. There is that weakness. As you make progress, such children will emerge who will be completely intoxicated in remembrance of the Father. Only while in remembrance will they prepare food. Just as a drunk person has his own intoxication, in the same way, you children should have this intoxication of remembrance of the spiritual Father. There is a lot of benefit in this. You have to remember the Bridegroom or the Father. The Father is extremely sweet. No one is as sweet as He is. People outside don’t know of these things. Only those who belong to the deity religion can understand these things. “You are the Mother and the Father.” This is the praise of the incorporeal Father alone. No one could say this to Krishna. The Father definitely performed such an elevated task. This is why we praise Him so much on the path of devotion. The Father now says: Sweet children, remove your intellects’ yoga from everyone else. Remove your intellects’ yoga from the whole world, including your own bodies, and constantly remember Me alone and your boat will go across. This is a very inexpensive bargain. However, those who make it are numberwise. This is also predestined in the drama. Baba explains to you so well. You listen to Him. Some of you even imbibe it very well. Others simply hear it with one ear and let it out through the other. Children become refreshed here by listening to Him personally but then, as soon as they go out, they forget; they don’t remember anything at all. Some will repeat it very well. They will do practically everything that Baba has explained. If you wake up early in the morning and prepare food in remembrance of Baba, that food will have a lot of power. You children should have so much intoxication of having to uplift the whole human clan. This is only for the human clan. It isn’t that you will uplift animals etc. That is their part of the drama. As are human beings, so their furniture. There is no rubbish in the golden age. There are so many comforts for you there. Animals and birds there are very royal. As are human beings, so all the material around them. What would be the material around those who are poor? The material of wealthy people is so royal. You children know that Baba is inspiring you to earn a high income. Then, it depends on how much each one does; the study is the same. Each one claims a status, numberwise. There are kings and queens, subjects, maids and servants of wealthy people and maids and servants of poorer people etc. It is in your intellects that you are establishing your kingdom with the power of yoga. There is no question of weapons here. That refers to this time. You are claiming the kingdom with the power of yoga. At this time you are Brahmins, Shaktis. Deities and goddesses in the golden age will not have any weapons etc. Everything that they have shown refers to the present time: the sword of knowledge, the weapon of knowledge. They have then taken all of them to be physical. Your features and your characters are now both changing. You are becoming beautiful from ugly. You are becoming full of all virtues, 16 celestial degrees full. It depends on how much effort each one makes. There cannot be any lies here. If there is something ugly inside, that would also be visible externally. Baba says: Children, become so sweet that everyone wonders who made you as you are. You have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world. It is only by knowing this cycle that you will become rulers of the globe. Put up a board saying that the Father is the Creator and that He alone is giving us all the knowledge. You are Brahmins; your caste is unique. The Father is giving knowledge to you Brahmins who are the mouth-born creation of Brahma. Therefore, you should have so much love for Shiv Baba. However, even very good firstclass children fail in yoga. Knowledge is very easy. They even speak the murli very well, but yoga does requires effort. It requires effort to have your sins absolved with remembrance. It is in this that many fail. God speaks: I have come to change you from human beings into deities, pure from impure. Only through knowledge is salvation received. Therefore, the Ocean of Knowledge definitely has to give knowledge. Neither the water of the ocean nor of the rivers can purify you. You children now understand that you are establishing a kingdom for yourselves. You are becoming soul conscious. You claim your inheritance of knowledge from Baba and become the masters of the world. There is a vast difference between their intellects and your intellects. All of those people do everything for destruction whereas everything you do for establishment. You mustn’t forget these things. However, those who don’t have it in their fortune don’t imbibe these things. You should make effort to claim a high status, to pass and claim a high number. You do desire this but you aren’t able to make that effort. This study is unlimited. The Father gives you the sovereignty of the world. It is a wonder. He says with a lot of love: Children, remember Me! You have to remember Him deep in your very bones. The Father has come once again. We will definitely follow the Father’s directions and claim our full inheritance. Baba, we now know You. Some haven’t even seen Baba and yet they receive a touching while just sitting at home. Some become intoxicated by hearing just a little. Their fortune also accompanies them. Some are influenced by bad company and so they stop studying. Those who follow Ravan’s dictates are separate from those who follow God’s directions. You children know how the kingdom is being established with the power of yoga. There are many types of physical power. There is only one type of yoga power. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become introverted and listen to only the one Father. Connect your intellects in yoga to only the one Father and become virtuous. Don’t become extroverted.
  2. Remain in the intoxication of remembering the spiritual Father while preparing and eating food. Become a firm yogi.
Blessing: May you become free from attachment and receive God’s love by remaining detached and not worldly while living at home with your family.
While staying at home with your family, have the aim that you are at a service place for service. Wherever you live, let the atmosphere be like that of a service place. The meaning of a household is to have an attitude of being beyond, that there is no consciousness of “mine”. Everything belongs to the Father and so it is an attitude of being beyond. Anyone who comes should experience you to be detached and loving to God. Let there not be attachment to anyone. Let the atmosphere not be worldly, but spiritual and let your speaking and doing be the same and you will then receive number one.
Slogan: When you remain constantly full of treasures and are content any adverse situations that come will be transformed.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 December 2017

To Read Murli 6 December 2017 :- Click Here
07/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इधर-उधर बैठकर फालतू बातों में अपना टाइम वेस्ट मत करो, बाप की याद में रहो तो टाइम आबाद हो जायेगा”
प्रश्नः- बाप का शो (नाम) कौन से बच्चे निकाल सकते हैं?
उत्तर:- जो बाप समान सेवा करते हैं। अगर हर कर्म बाप के समान हो तो बहुत बड़ा फल मिल जायेगा। बाबा हम बच्चों को आप समान बनाने के लिए पुरुषार्थ करा रहे हैं।
प्रश्नः- अन्तर्मुखी किसे कहेंगे? तुम्हारी अन्तर्मुखता निराली है कैसे?
उत्तर:- सोल कान्सेस होकर रहना ही अन्तर्मुखी बनना है। अन्दर जो आत्मा है उनको सब कुछ बाप से ही सुनना है, एक बाप से ही बुद्धियोग रख गुणवान बनना है, यही है निराली अन्तर्मुखता।
गीत:-  

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने यह गीत सुना। बाप की महिमा सुनी और बाप की महिमा का फल फिर बच्चों को मिल रहा है। और बच्चे फिर बाप का शो करते हैं। परन्तु शो तब करेंगे जब उन जैसी सर्विस करेंगे। वह फल भी भारी पायेंगे। अब तुम बच्चे प्रैक्टिकल में हो। भगत सिर्फ गाते रहते हैं। तुम जानते हो बापदादा संगम पर हमारे सम्मुख बैठे हैं। बाप जरूर दादा के तन से ही बतायेगा। यह बच्चों को पक्का निश्चय है कि हम पुरुषार्थ कर अवश्य बाप समान बनेंगे। बाप पतित-पावन, ज्ञान सागर है। उससे तुम पतित-पावनी ज्ञान गंगायें निकली हो। गंगायें क्यों कहा जाता है? क्योंकि तुम सब सजनियां हो। सबको हम ज्ञान गंगा ही कहेंगे। बच्चों को नशा चढ़ता है कि हम श्रीमत पर सारे विश्व के मनुष्य मात्र को सुख दे सकते हैं, जो और कोई नहीं दे सकता। अब बाप आया है सबको सद्गति देने, और दिलाते भी हैं बच्चों द्वारा क्योंकि करनकरावनहार है ना। तो ऐसे बाप की श्रीमत पर जरूर चलना पड़े। बाप कहते हैं जो करेगा और जितनी सर्विस करेगा – वही 21 जन्मों के लिए ऊंच प्रालब्ध पायेगा। परन्तु तकदीर में नहीं है तो कुछ करते नहीं हैं। है बहुत सहज। दिन-प्रतिदिन बाप बहुत अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स देते रहते हैं, और बाप कहते हैं जितनी झोली भरनी हो उतनी भर दो। यह मालूम भी अपने को पड़ सकता है कि हम अपनी झोली अच्छी रीति भर रहे हैं या कहाँ टाइम वेस्ट करते हैं। भक्ति में तो बहुत टाइम वेस्ट किया, एनर्जी वेस्ट की, पैसे भी बरबाद किये तो मेहनत भी बरबाद की। देखो कितनी मेहनत करते हैं। जप, तप, दान, तीर्थ आदि कितना करते हैं। अब यह जो कुछ हुआ ड्रामानुसार। अभी तो है पुरुषार्थ की बात। जो बीत चुका उसका तो कुछ होना नहीं है। फिर अपने समय पर रिपीट होगा। अब बाप कहते हैं श्रीमत पर चलो। अपना टाइम यहाँ वहाँ बरबाद मत करो। टाइम को आबाद करो – बाप की याद में। बहुत बच्चे हैं जो बाप की बातें एक कान से सुनकर दूसरे से निकाल देते हैं। जो अच्छी रीति धारण करेंगे वह फिर औरों की भी जरूर सर्विस करेंगे। अपना समय कहाँ भी बरबाद नहीं करेंगे। बहुत बच्चे हैं जो सारा दिन बाहरमुखी रहते हैं। बच्चों को पुरुषार्थ कर अर्न्तमुखी बनना है। अन्दर आत्मा है ना। यह निश्चय करना है कि हम आत्माओं को बाप समझा रहे हैं कि बच्चे तुमको सोल कान्सेस होकर रहना है, सच्चा-सच्चा अन्तर्मुख इसको कहा जाता है। हमारे अन्तर्मुख होने की बातें ही निराली हैं। अन्दर जो आत्मा है उनको सब कुछ बाप से ही सुनना है। बाप प्यार से बच्चों को बार-बार समझाते हैं। मात-पिता और भी जो अनन्य भाई-बहिन हैं, जो अच्छी सर्विस करते हैं, उन्हों से तुमको सीखना है। भल थोड़े बहुत अवगुण तो सभी में अभी हैं। गाते भी हैं कि मुझ निर्गुण हारे में.. अभी तुम बच्चों को गुणवान बनना है। सो तब बन सकते हो जब बाप के साथ बुद्धियोग होगा। माया तो बहुत भटकायेगी। बच्चे गिरते और चढ़ते रहते हैं। जो बॉडी कान्सेस रहते हैं वह गिरते रहते हैं। जो सोल कान्सेस रहते हैं वह गिरते नहीं हैं। वह बाप से अन्जाम (वायदा) करते हैं कि हम यह काम करके ही दिखायेंगे। पूर्ण पवित्र बनकर ही दिखायेंगे। अन्दर में यह पक्का निश्चय करना चाहिए कि हम बाप से पूरा-पूरा वर्सा लेंगे। कहाँ भी फालतू टाइम नहीं गंवायेंगे। बच्चों को शरीर निर्वाह भी करना है। घरबार छोड़ना तो हठयोगी सन्यासियों का काम है। तुमको तो अपनी रचना की भी पूरी देख-रेख करनी है और दिल में यह निश्चय रखना है कि इन आंखों से हम जो देखते हैं, वह सब विनाश हो जाने वाला है। इसमें ममत्व रखने से ही अपना नुकसान करेंगे। ममत्व एक बाप से रखना है। मुख्य बात है पवित्रता की। इस पर भी बहुत हंगामें होते हैं। क्रोध पर इतना हंगामा नहीं होगा। बाप कहते हैं यह काम विकार तो इस समय सबमें प्रवेश है। सब विकार से पैदा होते हैं। तुम समझा सकते हो कि हम भ्रष्टाचारी को श्रेष्ठाचारी बनाने में मदद कर रहे हैं।

अब तुम बच्चों को सोल-कान्सेस बनना है। पतित-पावन बाप को याद करना है। बुलाते भी हैं कि हे पतित-पावन आओ तो आकर क्या करेंगे? जरूर पावन बनायेंगे। यहाँ स्नान आदि की तो बात नहीं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो और कोई भी उपाय है नहीं। योग अग्नि से ही तुम पतित से पावन बनेंगे। आइरन एज़ से तुम गोल्डन एज़ में जायेंगे। यह एक ही उपाय है, दूसरा कोई उपाय ही नहीं। सब बीमारियों की एक ही दवाई है, बाप की याद। इससे ही सब दु:ख दूर हो जायेंगे। बाप की याद से वर्सा भी याद आयेगा। बाप माना ही वर्सा। लौकिक बाप भल कितना भी गरीब होगा तो पाई-पैसे, बर्तन आदि का कुछ तो वर्सा देगा जरूर। तो तुमको पहले बाप को फिर वर्से को याद करना है। बाप कहते हैं मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप तुमको सभी वेदों, शास्त्रों का सार समझाते हैं। दूसरा कोई भी यह सार जानते ही नहीं। बाप सीधा कहते हैं बच्चे देह-अभिमान को छोड़ दो। तुमको समझना चाहिए कि हम आत्माओं से बाप बात कर रहे हैं। निराकार बाप निराकार बच्चों को ही कहेंगे कि तुम आत्मायें कानों से सुनती हो। तुम ही सब कुछ करती हो। कोई भी हालत में बच्चों को देह-अभिमानी नहीं बनना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। सर्विस भी करो क्योंकि देह से ही सब काम होता है। वह तो करना ही पड़े। कोई-कोई कुछ समय के लिए अनकान्सेस, बेहोश भी हो जाते हैं। परन्तु वह कोई ज्ञान की बात नहीं। यहाँ तो बाप को याद करने की ही मेहनत करनी है, जिसमें ही माया के बहुत विघ्न पड़ते हैं। तुम जानते हो हमने बाप की गोद ली है तो बाप को जरूर याद करना पड़े। भोग बनाते हो तो भी शिवबाबा को याद करना है। आगे भोग बनाते थे तो कृष्ण को, राम को, गुरूनानक को याद करते थे। गुरूवाणी पढ़ते थे। याद में बनायेंगे तब तो शुद्ध होगा। फिर प्रैक्टिस पड़ जाती है। यहाँ भी बाप के याद की प्रैक्टिस पड़ जानी चाहिए। जितना हो सके भोग वा भोजन बनाने के समय बाबा को याद जरूर करना है, बहुत-बहुत जरूरी है। परन्तु बच्चे याद करते नहीं। भण्डारे में एक दो को याद कराना चाहिए कि बाबा को याद कर भोजन बनाओ। ऐसे करते-करते पक्के हो जायेंगे। जिनको अभ्यास नहीं होगा, वह तो कभी याद करेंगे नहीं। ब्रह्मा-भोजन की बहुत महिमा है तो जरूर कुछ होगा ना। देवतायें भी इच्छा रखते हैं ब्रह्मा भोजन की। तो याद में रह भोजन बनाने से अपना भी कल्याण होता है तो आने वालों का भी कल्याण होता है। याद में रहने से बुद्धि में आ जाता है कि हम शिवबाबा से वर्सा ले रहे हैं। परन्तु बच्चे याद करते नहीं हैं, यह कच्चाई है। आगे चलकर ऐसे बच्चे निकलेंगे जो बाप की याद में एकदम मस्त हो जायेंगे। याद में ही भोजन आदि बनायेंगे। जैसे शराब का नशा चढ़ जाता है। तुम बच्चों को फिर यह रूहानी बाप की याद का नशा रहना चाहिए, इससे बहुत फ़ायदा है। साज़न को वा बाप को याद करना है, अति मीठा बाप है। इन जैसा मीठा कोई होता नहीं। बाहर वाले तो इन बातों को जानते ही नहीं। देवी-देवता धर्म वाले ही समझ सकते हैं। त्वमेव माताश्च पिता.. यह एक निराकार बाप की महिमा है। कृष्ण को कोई कह न सके। जरूर बाप ने इतना ऊंच कर्तव्य किया है तब फिर भक्ति मार्ग में हम उनकी इतनी महिमा करते हैं।

अब बाप कहते हैं – मीठे बच्चे और सब तरफ से बुद्धियोग हटाओ। सारी दुनिया से, अपनी देह से भी बुद्धि का योग हटाए मामेकम् याद करो तो तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा। बहुत सस्ता सौदा है परन्तु लेने वाले नम्बरवार हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। बाबा कितना अच्छी रीति समझाते हैं। सुनते भी हैं, कोई तो अच्छी रीति धारण करते हैं, कोई तो एक कान से सुन दूसरे से निकाल देते हैं। यहाँ सम्मुख सुनने से बच्चे रिफ्रेश होते हैं फिर बाहर जाने से भूल जाते हैं। कुछ भी याद नहीं रहता। कोई तो अच्छी रीति रिपीट भी करेंगे। जो बाबा ने समझाया है वह प्रैक्टिकल में करेंगे। सवेरे उठकर तुम बाबा की याद में भोजन बनायेंगे तो भोजन में ताकत रहेगी। इतना तुम बच्चों को नशा रहना चाहिए – सारे मनुष्य कुल का उद्धार करना है। मनुष्य कुल की ही बात है। ऐसे नहीं जानवर आदि का उद्धार करेंगे। उनका ड्रामा में पार्ट ही यह है। जैसा मनुष्य वैसा फर्नीचर। सतयुग में किचड़-पट्टी होती नहीं। तुम्हारे लिए कितने वैभव हैं। वहाँ पंछी जानवर आदि सब रॉयल होते हैं। जैसा मनुष्य वैसी उनकी सामग्री होती है। गरीब की सामग्री क्या होगी? साहूकार की सामग्री कितनी रॉयल होगी। तुम बच्चे जानते हो बाबा हमको बहुत ऊंची कमाई करा रहा है। फिर जितना जो करे पढ़ाई एक ही है। पद हर एक नम्बरवार पाते हैं। राजा-रानी, प्रजा, साहूकार के नौकर चाकर, गरीब के नौकर-चाकर सब होते हैं। बुद्धि में है कि हम अपनी राजधानी योगबल से स्थापन कर रहे हैं। हथियारों आदि की यहाँ बात नहीं है। यह है अभी की बात। योगबल से तुम राजाई पाते हो। इस समय तुम ब्राह्मणियाँ (शक्तियाँ) हो। सतयुग में देवियों को हथियार आदि हो नहीं सकते। यह है अभी की बात – ज्ञान तलवार, ज्ञान खड़ग। फिर वह सब स्थूल रूप में ले गये हैं। अब तुम्हारी सूरत और सीरत दोनों बदलती हैं। काले से गोरे बनते हो। सर्वगुण सम्पन्न और 16 कला सम्पूर्ण बनते हो, जितना जो पुरुषार्थ करेंगे, इसमें झूठ तो चल न सके। अगर अन्दर कुछ काला भरा हुआ होगा तो बाहर भी काला ही दिखाई पड़ेगा।

बाबा कहते हैं – बच्चे तुम ऐसे मीठे बनो जो सब समझे तो इनको बनाने वाला कौन है। तुम्हारी बुद्धि में सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज है। इस चक्र को जानने से ही तुम चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे। बोर्ड लगा दो कि रचता है बाप, वही सारी नॉलेज देते हैं। तुम हो ब्राह्मण। तुम्हारी जात ही न्यारी है। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों को ही बाप नॉलेज सुना रहे हैं। तो शिवबाबा के साथ तुम्हारा कितना लव होना चाहिए। परन्तु अच्छे-अच्छे फर्स्टक्लास बच्चे योग में फेल हो पड़ते हैं। ज्ञान तो बड़ा सहज है। मुरली भी अच्छी चलाते हैं परन्तु योग में मेहनत है। याद से विकर्म विनाश करना – यह मेहनत है। बस इसमें बहुत फेल होते हैं। भगवानुवाच तुमको मनुष्य से देवता, पतित से पावन बनाने आया हूँ। ज्ञान से ही सद्गति होती है, तो ज्ञान सागर को जरूर नॉलेज देना पड़े। बाकी पानी का सागर वा नदियाँ थोड़ेही पावन बना सकती हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो हम अपने लिए राजधानी स्थापन कर रहे हैं। आत्म-अभिमानी बन रहे हैं। हम बाबा से नॉलेज का वर्सा लेकर विश्व का मालिक बन जायेंगे। कहाँ उन्हों की बुद्धि, कहाँ तुम्हारी बुद्धि। वह सब विनाश के लिए काम करते, तुम स्थापना के लिए करते हो। यह बातें भूलनी नहीं चाहिए। परन्तु जिनकी तकदीर में नहीं है तो धारणा करते ही नहीं। पुरुषार्थ करना चाहिए – ऊंच पद पाने के लिए। हम पास होकर ऊंच नम्बर लेवें। चाहते तो हैं परन्तु मेहनत नहीं पहुँचती। यह है बेहद की पढ़ाई, बाप तो विश्व की बादशाही देते हैं। वन्डर है ना। बहुत प्यार से समझाते हैं। बच्चे, मुझे याद करो, हड्डी याद करना है। बाप फिर से आया हुआ है। हम जरूर बाप की मत पर चलकर पूरा वर्सा लेंगे। बाबा हम आपको जान गये हैं। बाबा को देखा भी नहीं है, घर बैठे भी टचिंग हो जाती है। कोई को थोड़ा सुनने से भी नशा चढ़ जाता है। तकदीर भी साथ देती है। कोई फिर संगदोष में आकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। रावण मत वाले अलग हैं, ईश्वरीय मत वाले अलग हैं। तुम बच्चे जानते हो – कैसे राजाई स्थापन हो रही है योगबल से। बाहुबल अनेक प्रकार का है। योगबल एक ही प्रकार का है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्तर्मुखी बन एक बाप से ही सुनना है। एक बाप के साथ बुद्धियोग रख गुणवान बनना है। बाहरमुखता में नहीं आना है।

2) रूहानी बाप की याद के नशे में रह भोजन बनाना वा खाना है। पक्का योगी बनना है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते लौकिकता से न्यारे रह प्रभू का प्यार प्राप्त करने वाले लगावमुक्त भव 
प्रवृत्ति में रहते लक्ष्य रखो कि सेवा-स्थान पर सेवा के लिए हैं, जहाँ भी रहते वहाँ का वातावरण सेवा स्थान जैसा हो, प्रवृत्ति का अर्थ ही पर-वृत्ति में रहने वाले अर्थात् मेरापन नहीं, बाप का है तो पर-वृत्ति है। कोई भी आये तो अनुभव करे कि ये न्यारे और प्रभु के प्यारे हैं। किसी में भी लगाव न हो। वातावरण लौकिक नहीं, अलौकिक हो, कहना और करना समान हो तब नम्बरवन मिलेगा।
स्लोगन:- सदा खजानों से सम्पन्न और सन्तुष्ट रहो तो परिस्थितियां आयेंगी और बदल जायेंगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize