murli 27 November 2020

TODAY MURLI 27 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 November 2020

27/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you know that this drama is a playTherefore, it is not a question of giving thanks.
Question: Which habit should serviceable children not have at all?
Answer: The habit of asking for something. You do not need to ask the Father for blessings or mercy, etc. You must not ask anyone for money. It is better to die then to ask for something. You know that, according to the drama, those who sowed a seed in the previous cycle will do so again. Those who want to create a high status for the future will definitely do that; they will definitely be co-operative. Your duty is to do service; you must not ask anyone for anything. It is on the path of devotion, not on the path of knowledge that you ask for things.
Song: The heart says “Thank you” to the One who has given me support.

Om shanti. You children mustn’t say, “Thank you,” to the Father, Teacher or Guru, because you children know that this is a predestined play. It is not a question of saying “Thank you”. You children understand this according to the drama. The word “drama” enters the intellects of you children. As soon as you say the word “play”, the whole play enters your intellects. That is, you souls become swadarshanchakradhari. The three worlds are in your intellects: the incorporeal world, the subtle region and corporeal world. You know that the play is now coming to an end. The Father comes and makes you trikaldarshi. He comes and gives you the knowledge of the three aspects of time, the three worlds, and the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. Time is referred to as “kaal”. You will not be able to remember these things without noting them down. You children forget many points. You know the duration of the drama. It is when you receive the third eye of knowledge that you become trinetri and trikaldarshi. The most important thing is that you become theists. Otherwise, you are orphans. You children are receiving this knowledge. The intellectsof students constantly churning knowledge. This too is knowledge. The highest-on-high Father gives you this knowledge according to the drama. Only from your lips does the word “drama” emerge. In that, too, it is also only from the children who are engaged in doing service. You now know that you were orphans. Now that you have found the unlimited Father, the Master, you belong to the Lord and Master. Previously, you were unlimited orphans. The unlimited Father is the One who gives you unlimited happiness; no other father can give such happiness. You children have the new world and the old world in your intellects. However, you have to busy yourselves in the spiritual business of explaining accurately to others. Everyone has their own circumstances. Only those who stay on the pilgrimage of remembrance will be able to explain. It is by having remembrance that you receive power. The Father is the powerful Sword. You children have to fill yourselves with power. You attain sovereignty over the world with the power of yoga. You receive power through yoga, not through knowledge. It is explained to you children that knowledge is your source of income. Yoga is said to be power. There is the difference of day and night. Is yoga better or is knowledge better? Yoga is very well known. Yoga means remembrance of the Father. The Father says: Your sins will be cut away by having this remembrance. It is this that the Father emphasises. Knowledge is easy. God speaks: I tell you easy knowledge. I tell you the knowledge of the cycle of 84 births. Everything is included in this. It is history and geography. Knowledge and yoga are of just a second. I am a soul and I have to remember the Father. This requires effort. When you stay on the pilgrimage of remembrance, it is as though you forget your body. If you were to sit in the stage of being bodiless for even an hour, you would become so pure. When people go to sleep at night, they become bodiless for six to eight hours. At that time, they don’t perform sinful actions. Souls become tired and go to sleep; it isn’t that their sins are absolved. No; that is sleep; no sins are performed. If they don’t go to sleep, they continue to commit sins. So, sleep is also a protection. Having worked all day, the soul says: I am now going to sleep and become bodiless. You have to become bodiless while in the body. I, a soul, am detached from this body. I am an embodiment of peace. You would never have heard this praise of a soul: A soul is the truth, a living being, and an embodiment of peace. The praise of the Supreme Soul is: The Truth and the Living Being. He is the Ocean of Peace and Happiness. You are called masters; children too are called masters. The Father continues to show you ways to have remembrance. It isn’t that you have to sleep the whole day. No, you have to stay in remembrance and have your sins absolved. Continue to remember the Father as much as possible. It isn’t that the Father has mercy for you or gives you blessings. No, His being called “The Merciful Emperor” is just His praise. To make you satopradhan from tamopradhan is also in His part. Devotees sing His praise, but you don’t do that any more and this is why the songs are being gradually stopped. Do they sing songs in school? Children sit in silence. As soon as the teacher comes, they stand up. Then they sit down again. The Father says: I have been given the part of teaching you and so I have to teach you. There is no need for you children to stand up. You souls have to sit and listen. Your ways are completely different from those of the world. Would a father ask his children to stand up? No, you do that on the path of devotion, not here. The Father Himself stands up and says, “Namaste!” If students come to school late, the teacher punishes them by making them stand outside. This is why students are afraid of not arriving on time. Here, there is no question of fear. The Father continues to explain to you and you continue to receive murlis. You have to study them regularly. When you study them regularly, you receive a present mark. Otherwise, you will be given an absent mark. The Father says: I tell you very deep points. If you miss a murli, you will miss those points. These are new aspects, which no one in the world knows. When they see your pictures, they are amazed. These are not mentioned in any scriptures. God created these pictures. This is your new artgallery. This will sit in the intellects of those of the Brahmin clan who are to become deities. They will say: This is right. We studied this in the previous cycle. Therefore, it is definitely God who is teaching us. The Gita is the number one scripture of the scriptures of the path of devotion, because this is the first religion. Then, much later, after half the cycle, many other scriptures appear. First Abraham came. He was alone. Then there were two from one, and then there were four from two. When a religion grows to 100,000 to 150,000, its scriptures, etc. are created. It is when the religion has half grown that its scriptures are written. There is a proper calculation. You children should have a great deal of happiness. We are receiving our inheritance from the Father. You know that the Father is explaining the knowledge of the whole world cycle to you. This is unlimited history and geography. Tell everyone: The history and geography of the world that no one else can teach you is being explained to you. Although others can show you a map of the world, they can’t show you when or for how long it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. There is just one world. They ruled in Bharat, but they no longer exist there. These things are not in anyone’s intellect. They say that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. Baba doesn’t give you sweetest children much difficulty. The Father says: You have to become pure. You have been stumbling along for so long on the path of devotion in order to become pure. You now understand that it has been 2,500 years since you started stumbling. Baba has now come once again to give you your fortune of the kingdom. You remember this. The world definitely becomes new from old and old from new. You are now the masters of old Bharat, and you are becoming the masters of the new one. On the one hand, they sing a lot of praise of Bharat and on the other hand, they also continue to defame Bharat. You have this song. You can explain about what is happening now. Let people hear both these songs. You can show the contrast between the time of the kingdom of Rama (God) and this time. The Father is the Lord of the Poor. Only daughters of the poor will come to Baba. The wealthy have their own intoxication. Those who came in the previous cycle will do so again. There is nothing to worry about. Shiv Baba doesn’t have to worry about anything; it is Dada who has to worry. He has his own worry of becoming the number one pure soul. This requires incognito effort. When you write your chart you can understand that this one’s effort is greater. The Father always says: Keep a diary! Many children do write a diary and they have made a lot of improvement by writing a chart. This method is very good. Therefore, everyone should do this. You’ll benefit a great deal by keeping a diary. To keep a diary means to remember the Father. You have to write in it how much you remembered the Father. The diary will help you very much in making effort. Many hundreds of thousands of diaries are printed for you to note these things down. This is the main thing to note down. You must never forget this. Write it in your diary at the time. Write your full account at night. You will then realise that you are going into loss, because you still have to have your sins of many births burnt away. The Father shows you the way. Have mercy for yourselves! A teacher teaches you, he doesn’t give you blessings. It is better to die than to ask for blessings or mercy etc. You mustn’t ask anyone for money. You children are strictly forbidden to do that. The Father says: According to the drama, those who sowed a seed in the previous cycle and claimed their inheritance will do so again on their own. You mustn’t ask anyone for anything for any task. If someone doesn’t do anything, he won’t receive anything. When people make a lot of donations and perform a lot of charity, they receive something in return. They take birth to a king or a wealthy family. Those who want to do something will do it by themselves; they don’t need to ask anyone. Whatever they did in the previous cycle, the drama will inspire them to do the same. There is no need to ask for anything. Baba continues to tell you that the treasure-store will continue to be filled for service. I’m not going to ask the children to give Me money. The things of the path of devotion must not continue on the path of knowledge. Those who helped in the previous cycle will continue to do so again. You, yourselves, mustn’t ever ask for anything. Baba says: Children, you are not allowed to collect money. It is sannyasis who do that. Whatever small amount people give on the path of devotion, they receive the return of that for one birth. Here, it is for birth after birth. Therefore, it is good to give everything in this birth and to receive the return of it for birth after birth. That One’s name is the Innocent Lord of the Treasure-Store. Make effort and you can be threaded in the rosary of victory. When the treasure stores are full, all sorrow and suffering is removed. There is never untimely death there. Here, people are afraid of death. As soon as something happens, they remember death. You don’t have such thoughts there, because you will be in the land of immortality. This is the dirty land of death. Bharat was the land of immortality and it is now the land of death. The second half cycle has been very dirty for you; you have continued to come down. They have many dirty idols in the Jagadnath Temple. Baba is experienced; he has travelled everywhere. He has become ugly from beautiful. He used to live in a little village. In fact, the whole of Bharat is a little village; you are village urchins. You now understand that you are becoming the masters of the world. Don’t think that you are residents of Bombay. What is Bombay compared to heaven? Nothing at all! Not even worth a stone! We village urchins who became orphans are now becoming the masters of heaven. Therefore, let there be that happiness. The very name is heaven. The palaces are studded with so many diamonds and jewels. The Somnath Temple too was studded with diamonds and jewels. First of all, they built a temple to Shiva. They were so wealthy! Bharat now is a small village. In the golden age it was very prosperous. No one in the world except you knows these things. You say: Yesterday we were emperors and today we are beggars. We are once again becoming the masters of the world. You children should appreciate your fortune and be grateful. We are multimillion times fortunate. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be saved from committing sin, make effort to become bodiless while in your body. Stay on the pilgrimage of remembrance in such a way that you forget your body.
  2. Churn knowledge and become theists. Never miss a murli. In order to make progress, note down your chart of remembrance in your diary.
Blessing: May you attain the limitless treasure of fortune with the key of knowledge and become full of all treasures.
At the confluence age, all of you children receive the key of knowledge with which to create your fortune. Use this key and take as many treasures of fortune as you want. As soon as you received the key, you became filled with all treasures. To the extent that you become full of all treasures, accordingly you automatically have that much happiness. You will experience it to be as though a waterfall of happiness is eternally and unceasingly flowing. You will appear to be full of all treasures with no lack of any type of attainment.
Slogan: Keep a good connection with the Father and you will continue to receive a current of all powers.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम ड्रामा के खेल को जानते हो इसलिए शुक्रिया मानने की भी बात नहीं है”
प्रश्नः- सर्विसएबुल बच्चों में कौन-सी आदत बिल्कुल नहीं होनी चाहिए?
उत्तर:- मांगने की। तुम्हें बाप से आशीर्वाद या कृपा आदि मांगने की जरूरत नहीं है। तुम किसी से पैसा भी नहीं मांग सकते। मांगने से मरना भला। तुम जानते हो ड्रामा अनुसार कल्प पहले जिन्होंने बीज बोया होगा वह बोयेंगे, जिनको अपना भविष्य पद ऊंच बनाना होगा वह जरूर सहयोगी बनेंगे। तुम्हारा काम है सर्विस करना। तुम किसी से कुछ मांग नहीं सकते। भक्ति में मांगना होता, ज्ञान में नहीं।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले……..

ओम् शान्ति। यह बच्चों के अन्दर से शुक्रिया अक्षर बाप-टीचर-गुरू के लिए नहीं निकल सकता क्योंकि बच्चे जानते हैं यह खेल बना हुआ है। शुक्रिया आदि की बात नहीं है। यह भी बच्चे जानते हैं ड्रामा अनुसार। ड्रामा अक्षर भी तुम बच्चों की बुद्धि में आता है। खेल अक्षर कहने से ही सारा खेल तुम्हारी बुद्धि में आ जाता है। गोया स्वदर्शन चक्रधारी तुम आपेही बन जाते हो। तीनों लोक भी तुम्हारी बुद्धि में आ जाते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन। यह भी जानते हो अब खेल पूरा होता है। बाप आकर तुमको त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीनों कालों, तीनों लोकों, आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। काल समय को कहा जाता है। यह सब बातें नोट करने बिगर याद नहीं रह सकती। तुम बच्चे तो बहुत प्वाइंट्स भूल जाते हो। ड्रामा के ड्यूरेशन को भी तुम जानते हो। तुम त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी बनते हो, ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल जाता है। सबसे बड़ी बात है कि तुम आस्तिक बन जाते हो, नहीं तो निधनके थे। यह ज्ञान तुम बच्चों को मिल रहा है। स्टूडेण्ट की बुद्धि में सदैव नॉलेज मंथन होती है। यह भी नॉलेज है ना। ऊंच ते ऊंच बाप ही नॉलेज देते हैं, ड्रामा अनुसार। ड्रामा अक्षर भी तुम्हारे मुख से निकल सकता है। सो भी जो बच्चे सर्विस में तत्पर रहते हैं। अभी तुम जानते हो – हम आरफन थे। अब बेहद का बाप धणी मिला है तो धणके बने हैं। पहले तुम बेहद के आरफन थे, बेहद का बाप बेहद का सुख देने वाला है और कोई बाप नहीं जो ऐसा सुख देता हो। नई दुनिया और पुरानी दुनिया यह सब तुम बच्चों की बुद्धि में है। परन्तु औरों को भी यथार्थ रीति समझायें, इस ईश्वरीय धन्धे में लग जाएं। हर एक के सरकमस्टांश अपने-अपने होते हैं। समझा भी वह सकेंगे जो याद की यात्रा में होंगे। याद से बल मिलता है ना। बाप है ही – जौहरदार तलवार। तुम बच्चों को जौहर भरना है। योगबल से विश्व की बादशाही पाते हो। योग से बल मिलता है, ज्ञान से नहीं। बच्चों को समझाया है – नॉलेज सोर्स ऑफ इनकम है। योग को बल कहा जाता है। रात-दिन का फ़र्क है। अब योग अच्छा या ज्ञान अच्छा? योग ही नामीग्रामी है। योग अर्थात् बाप की याद। बाप कहते हैं इस याद से ही तुम्हारे पाप कट जायेंगे। इस पर ही बाप ज़ोर देते हैं। ज्ञान तो सहज है। भगवानुवाच – मैं तुमको सहज ज्ञान सुनाता हूँ। 84 के चक्र का ज्ञान सुनाता हूँ। उसमें सब आ जाता है। हिस्ट्री-जॉग्राफी है ना। ज्ञान और योग दोनों है सेकण्ड का काम। बस हम आत्मा हैं, हमको बाप को याद करना है। इसमें मेहनत है। याद की यात्रा में रहने से शरीर की जैसे विस्मृति होती जाती। घण्टा भर भी ऐसे अशरीरी होकर बैठो तो कितने पावन हो जाएं। मनुष्य रात को कोई 6, कोई 8 घण्टा नींद करते हैं तो अशरीरी हो जाते हैं ना। उस समय में कोई विकर्म नहीं होता है। आत्मा थक कर सो जाती है। ऐसे भी नहीं कोई पाप विनाश होते हैं। नहीं, वह है नींद। विकर्म कोई होता नहीं है। नींद न करे तो पाप ही करते रहेंगे। तो नींद भी एक बचाव है। सारा दिन सर्विस कर आत्मा कहती है मैं अब सोता हूँ, अशरीरी बन जाता हूँ। तुमको शरीर होते अशरीरी बनना है। हम आत्मा इस शरीर से न्यारी, शान्त स्वरूप हैं। आत्मा की महिमा कभी नहीं सुनी होगी। आत्मा सत् चित आनन्द स्वरूप है। परमात्मा की महिमा गाते हैं कि सत है, चैतन्य है। सुख-शान्ति का सागर है। अब तुमको फिर कहेंगे मास्टर, बच्चे को मास्टर भी कहते हैं। तो बाप युक्तियां भी बतलाते रहते हैं। ऐसे भी नहीं सारा दिन नींद करनी है। नहीं, तुमको तो याद में रह पापों का विनाश करना है। जितना हो सके बाप को याद करना है। ऐसे भी नहीं बाप हमारे ऊपर रहम वा कृपा करते हैं। नहीं, यह उनका गायन है – रहमदिल बादशाह। यह भी उनका पार्ट है, तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाना। भक्त लोग महिमा गाते हैं – तुम्हें सिर्फ महिमा नहीं गानी है। यह गीत आदि भी दिनप्र-तिदिन बंद होते जाते हैं। स्कूल में कभी गीत होते हैं क्या? बच्चे शान्ति में बैठे रहते हैं। टीचर आता है तो उठकर खड़े होते हैं, फिर बैठते हैं। यह बाप कहते हैं मुझे तो पार्ट मिला हुआ है पढ़ाने का, सो तो पढ़ाना ही है। तुम बच्चों को उठने की दरकार नहीं। आत्मा को बैठ सुनना है। तुम्हारी बात ही सारी दुनिया से न्यारी है। बच्चों को कहेंगे क्या तुम उठो। नहीं, वह तो भक्ति मार्ग में करते, यहाँ नहीं। बाप तो खुद उठकर नमस्ते करते हैं। स्कूल में अगर बच्चे देरी से आते हैं तो टीचर या तो रूल लगायेंगे या बाहर में खड़ा कर देंगे इसलिए डर रहता है टाइम पर पहुँचने का। यहाँ तो डर की बात नहीं। बाप समझाते रहते हैं – मुरलियां मिलती रहती हैं। वह रेग्युलर पढ़नी है। मुरली पढ़ो तो तुम्हारी प्रेजेन्ट मार्क पड़े। नहीं तो अबसेन्ट पड़ जायेगी क्योंकि बाप कहते हैं तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। तुम अगर मुरली मिस करेंगे तो वह प्वाइंट्स मिस हो जायेंगी। यह हैं नई बातें, जो दुनिया में कोई नहीं जानते। तुम्हारे चित्र देखकर ही चक्रित हो जाते हैं। कोई शास्त्रों में भी नहीं है। भगवान ने चित्र बनाये थे। तुम्हारी यह चित्रशाला है नई। ब्राह्मण कुल के जो देवता बनने वाले होंगे उनकी बुद्धि में ही बैठेगा। कहेंगे यह तो ठीक है। कल्प पहले भी हमने पढ़ा था, जरूर भगवान पढ़ाते हैं।

भक्ति मार्ग के शास्त्रों में पहले नम्बर में गीता ही है क्योंकि पहला धर्म ही यह है। फिर आधाकल्प के बाद उसके भी बहुत पीछे दूसरे शास्त्र बनते हैं। पहले इब्राहम आया तो अकेला था। फिर एक से दो, दो से चार हुए। जब धर्म की वृद्धि होते-होते लाख डेढ़ हो जाते तो शास्त्र आदि बनते हैं। उनके भी आधा समय बाद ही बनते होंगे, हिसाब किया जाता है ना। बच्चों को तो बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप से हमको वर्सा मिलता है। तुम जानते हो बाप हमको सारा ज्ञान सृष्टि चक्र का समझाते हैं। यह है बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी। सबको बोलो यहाँ वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाई जाती है जो और कोई सिखला न सके। भल वर्ल्ड का नक्शा निकालते हैं। परन्तु उसमें यह कहाँ दिखलाते कि लक्ष्मी-नारायण का राज्य कब था, कितना समय चला। वर्ल्ड तो एक ही है। भारत में ही राज्य करके गये हैं, अब नहीं हैं। यह बातें किसकी भी बुद्धि में नहीं हैं। वह तो कल्प की आयु ही लम्बी लाखों वर्ष कह देते। तुम मीठे-मीठे बच्चों को कोई जास्ती तकलीफ नहीं देते। बाप कहते हैं पावन बनना है। पावन बनने के लिए तुम भक्ति मार्ग में कितने धक्के खाते हो। अब समझते हो धक्के खाते-खाते 2500 वर्ष गुजर गये। अब फिर बाबा आया है फिर से राज्य-भाग्य देने। तुमको यही याद है। पुरानी से नयी और नयी से पुरानी दुनिया जरूर होती है। अभी तुम पुराने भारत के मालिक हो ना। फिर नये के मालिक बनेंगे। एक तरफ भारत की बहुत महिमा गाते रहते, दूसरे तरफ फिर बहुत ग्लानि करते रहते। वह भी तुम्हारे पास गीत है। तुम समझाते हो – अब क्या-क्या हो रहा है। यह दोनों गीत भी सुनाने चाहिए। तुम बता सकते हो – कहाँ रामराज्य, कहाँ यह!

बाप है गरीब निवाज़। गरीबों की ही बच्चियां मिलेंगी। साहूकारों को तो अपना नशा रहता है। कल्प पहले जो आये होंगे वही आयेंगे। फिकरात की कोई बात नहीं। शिवबाबा को कभी कोई फिकरात नहीं होती, दादा को होगी। इनको अपना भी फिकर है, हमको नम्बरवन पावन बनना है। इसमें है गुप्त पुरूषार्थ। चार्ट रखने से समझ में आता है, इनका पुरूषार्थ जास्ती है। बाप हमेशा समझाते रहते हैं डायरी रखो। बहुत बच्चे लिखते भी हैं, चार्ट लिखने से सुधार बहुत हुआ है। यह युक्ति बहुत अच्छी है, तो सबको करना चाहिए। डायरी रखने से तुमको बहुत फायदा होगा। डायरी रखना माना बाप को याद करना। उसमें बाप की याद लिखनी है। डायरी भी मददगार बनेगी, पुरूषार्थ होगा। डायरियां कितनी लाखों, करोड़ों बनती हैं, नोट आदि करने लिए। सबसे मुख्य बात तो यह है नोट करने की। यह कभी भूलना नहीं चाहिए। उसी समय डायरी में लिखना चाहिए। रात को हिसाब-किताब लिखना चाहिए। फिर मालूम पड़ेगा यह तो हमको घाटा पड़ रहा है क्योंकि जन्म-जन्मान्तर के विकर्म भस्म करने हैं।

बाप रास्ता बताते हैं – अपने ऊपर रहम वा कृपा करनी है। टीचर तो पढ़ाते हैं, आशीर्वाद तो नहीं करेंगे। आशीर्वाद, कृपा, रहम आदि मांगने से मरना भला। कोई से पैसा भी नहीं मांगना चाहिए। बच्चों को सख्त मना है। बाप कहते हैं ड्रामा अनुसार जिन्होंने कल्प पहले बीज बोया है, वर्सा पाया है वह आपेही करेंगे। तुम कोई काम के लिए मांगो नहीं। नहीं करेगा तो नहीं पायेगा। मनुष्य दान-पुण्य करते हैं तो रिटर्न में मिलता है ना। राजा के घर वा साहूकार के पास जन्म होता है। जिनको करना होगा वह आपेही करेंगे, तुमको मांगना नहीं है। कल्प पहले जिन्होंने जितना किया है, ड्रामा उनसे करायेगा। मांगने की क्या दरकार है। बाबा तो कहते रहते हैं हुण्डी भरती रहती है, सर्विस के लिए। हम बच्चों को थोड़ेही कहेंगे पैसा दो। भक्ति मार्ग की बात ज्ञान मार्ग में नहीं होती। जिन्होंने कल्प पहले मदद की है, वह करते रहेंगे, आपेही कभी मांगना नहीं है। बाबा कहते बच्चे चन्दाचीरा तुम इकट्ठा नहीं कर सकते। यह तो संन्यासी लोग करते हैं। भक्ति मार्ग में थोड़ा भी देते हैं, उसका रिटर्न में एक जन्म लिए मिलता है। यह फिर है जन्म-जन्मान्तर के लिए। तो जन्म-जन्मान्तर के लिए सब कुछ दे देना अच्छा है ना। इनका तो नाम भोला भण्डारी है। तुम पुरूषार्थ करो तो विजय माला में पिरोये जा सकते हो, भण्डारा भरपूर काल कंटक दूर है। वहाँ कभी अकाले मृत्यु नहीं होती। यहाँ मनुष्य काल से कितना डरते हैं। थोड़ा कुछ होता है तो मौत याद आ जाता। वहाँ यह ख्याल ही नहीं, तुम अमरपुरी में चलते हो। यह छी-छी मृत्युलोक है। भारत ही अमरलोक था, अब मृत्युलोक है।

तुम्हारा आधाकल्प बहुत छी-छी पास हुआ है। नीचे गिरते आये हो। जगन्नाथ पुरी में बहुत गन्दे-गन्दे चित्र हैं। बाबा तो अनुभवी है ना। चारों तरफ घूमा हुआ है। गोरे से सांवरा बना है। गांव में रहने वाला था। वास्तव में यह सारा भारत गांव है। तुम गांव के छोरे हो। अब तुम समझते हो हम विश्व के मालिक बनते हैं। ऐसे मत समझना हम तो बाम्बे में रहने वाले हैं। बाम्बे भी स्वर्ग के आगे क्या है! कुछ भी नहीं। एक पत्थर भी नहीं। हम गांव के छोरे निधणके बन गये हैं अब फिर हम स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं तो खुशी रहनी चाहिए। नाम ही है स्वर्ग। कितने हीरे-जवाहरात महलों में लगे रहते हैं। सोमनाथ का मन्दिर ही कितना हीरे-जवाहरातों से भरा हुआ था। पहले-पहले शिव का मन्दिर ही बनाते हैं। कितना साहूकार था। अभी तो भारत गांव है। सतयुग में बहुत मालामाल था। यह बातें दुनिया में तुम्हारे सिवाए कोई भी नहीं जानते। तुम कहेंगे कल हम बादशाह थे, आज फकीर हैं। फिर विश्व के मालिक बनते हैं। तुम बच्चों को अपने भाग्य पर शुक्रिया मानना चाहिए। हम पदमापदम भाग्यशाली हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विकर्मों से बचने के लिए इस शरीर में रहते अशरीरी बनने का पुरुषार्थ करना है। याद की यात्रा ऐसी हो जो शरीर की विस्मृति होती जाए।

2) ज्ञान का मंथन कर आस्तिक बनना है। मुरली कभी भी मिस नहीं करनी है। अपनी उन्नति के लिए डायरी में याद का चार्ट नोट करना है।

वरदान:- नॉलेज रूपी चाबी द्वारा भाग्य का अखुट खजाना प्राप्त करने वाले मालामाल भव
संगमयुग पर सभी बच्चों को भाग्य बनाने के लिए नॉलेज रूपी चाबी मिलती है। ये चाबी लगाओ और जितना चाहे उतना भाग्य का खजाना लो। चाबी मिली और मालामाल बन गये। जो जितना मालामाल बनते हैं उतना खुशी स्वत: रहती है। ऐसे अनुभव होता है जैसे खुशी का झरना अखुट अविनाशी बहता ही रहता है। वे सर्व खजानों से भरपूर मालामाल दिखाई देते हैं। उनके पास किसी भी प्रकार की अप्राप्ति नहीं रहती।
स्लोगन:- बाप से कनेक्शन ठीक रखो तो सर्व शक्तियों की करेन्ट आती रहेगी।
Font Resize