daily murli 9 november

TODAY MURLI 9 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 November 2020

09/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is yourmost valuable time and you must therefore not waste it. Donate knowledge to those who are worthy.
Question: What is the easy way to continue to imbibe virtues and reform your behaviour?
Answer: Explain to others the things that Baba explains to you. Donate the wealth of knowledge and you will easily continue to imbibe virtues and your behaviour will continue to be reformed. Those who are unable to keep this knowledge in their intellects and don’t donate the wealth of knowledge are misers. They create a loss for themselves unnecessarily.
Song: Do not forget the days of your childhood!

Om shanti. Sweetest children, you heard the song and you also understood the meaning of it very well. Don’t forget that you are souls and that you are children of the unlimited Father. One minute you are very happy in remembrance of the Father and the next minute you forget Him and you feel unhappy. One minute you are alive and the next minute you die, that is, one minute you belong to the unlimited Father and the next minute you go back to your physical family. Therefore, the Father says: Today you are laughing, but don’t cry tomorrow! This is what the song means. You children know that human beings are mostly stumbling around searching for peace; they go on pilgrimages. It isn’t that they find peace by stumbling everywhere. Only at this confluence age does the Father come and explain to you. First of all, recognize yourselves. Souls are embodiments of peace. Their place of residence is the land of peace. When souls come down here, they definitely have to act. When you are in the land of peace you remain peaceful. There is peace in the golden age too; there is happiness as well as peace. The land of peace isn’t called the land of happiness. The place where there is happiness is called the land of happiness and the place where there is sorrow is called the land of sorrow. You now understand all of these things. In order to make people understand these things, you have to explain to them personally. When people enter the exhibitions, first of all give them the Father’s introduction. It has been explained that the Father of souls is just the One. He is the God of the Gita. All the rest are souls. Souls shed their bodies and take others. The names of bodies change. The name “soul” doesn’t change. You children can explain: Only the unlimited Father gives the inheritance of happiness. The Father establishes the world of happiness. It is impossible for the Father to create a world of sorrow. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. There are the pictures. Tell them: You can receive this inheritance of happiness. If they say that this is your imagination, you should leave them alone. Those who think that this is your imagination will not understand anything. Your time is very valuable. No one else’s time throughout the whole world is as valuable as yours. The time of important people is also valuable. The Father’s time is so valuable! The Father explains everything to you and completely changes you. Therefore, the Father tells you children alone: Don’t waste your valuable time! Give knowledge to those who are worthy. You have to explain to those who are worthy. Not all children can understand this knowledge; some don’t have an intellect to understand. First of all, give the Father’s introduction. Until they understand that the Father of us souls is Shiva, they won’t be able to understand anything else. Explain to them with a lot of love and humility. Then, let them go, because those who belong to the Devil’s community won’t hesitate to start an argument. The Government praises students so much! They make so many arrangements for them. It is college students who start throwing stones first. They have so much anger (josh) in them. Old people and mothers are not able to throw stones with so much force. Generally it is students who make a lot of noise. They are the ones who would be trained to go to war. The Father now explains to you souls: You have been turned upside down: instead of considering yourselves to be souls, you consider yourselves to be bodies. The Father is now putting you the right way up. There is the difference of day and night. By being turned the right way up, you become the masters of the world. You now understand that you have been upside down for half a cycle. The Father is now putting you the right way up for half a cycle. When you become the children of Allah you receive the inheritance of sovereignty over the world. When Ravan turns you upside down, everything is destroyed and you continue to fall. You children understand about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. You have to stay in remembrance of the Father. Although you have to perform actions for the livelihood of your bodies, you still have plenty of time. When you don’t have a student or you don’t have anything to do, then just sit in remembrance of the Father. That income is for a temporary period whereas this income is for all time. You must pay more attention to this. Maya repeatedly takes your thoughts in other directions. This will continue to happen. Maya continues to make you forget. They show a play based on this: God says this and Maya says this. The Father says to the children: Constantly remember Me alone! It is in this that there are obstacles. There aren’t as many obstacles in anything else. So many experience being beaten because of purity. There is the memorial of this time written in the Bhagawad. There are the female devils, Putna, Supnakha etc. All of those matters refer to this time when the Father comes and makes you pure. They celebrate as a festival whatever you experienced in the past. They continue to praise the past. They continue to sing praise of the kingdom of Rama because it has become the past. For instance, Christ came and established that religion. They have the time and date of that, and so they continue to celebrate his birthday. That business continues on the path of devotion for half the cycle. It doesn’t happen in the golden age. This world is to be destroyed. There are very few of you who understand these things. The Father has explained that all souls have to return home at the end. All souls will shed their bodies and return home. It is in the intellects of you children that very few days remain. Everything is now to be destroyed once again. Only we will go to the golden age; not all souls will go there. Those who went in the previous cycle will go again, numberwise. Those are the ones who study well and who also teach others. Those who study very well become transferred, numberwise. You also become transferred. Your intellects know that all souls will go and sit in the land of peace, numberwise, and that they will then continue to come down, numberwise. The Father says: Nevertheless, the main thing is to give the Father’s introduction. Constantly have the Father’s name on your lips. What is a soul? What is the Supreme Soul? No one in the world knows this. Although they say that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead, they don’t understand anything more than that. This knowledge is in the intellects of very few of you. You repeatedly forget it. First of all, explain that the Father is the Purifier. He gives us the inheritance and also makes us into the greatest emperors. You have the song, “At last, the day has come”. You were looking for this path on the path of devotion. Devotion begins at the beginning of the copper age, and then, at the end, the Father comes and shows you the path. This is known as the time of settlement. All the accounts of devilish bondages will be settled and you will then return home. You know the parts of 84 births. These parts continue to be played. People celebrate Shiv Jayanti and so Shiva must surely have come. He must surely have done something. Only He creates the new world. Lakshmi and Narayan were the masters, but not any more. The Father is once again teaching you Raj Yoga. He had taught you this Raj Yoga previously. This cannot emerge from the lips of anyone but you. Only you can explain this. Shiv Baba is teaching us Raj Yoga. When people say, “Shivohum”, it is wrong. The Father has now also explained to you: You go around the cycle and go into the deity clan from the Brahmin clan. You can explain the meaning of “Hum so, so hum”. We are now Brahmins and this is the cycle of 84 births. This isn’t a mantra to chant. The meaning of this should remain in your intellects. It is a matter of just a second. Just as you are able to understand everything about a seed and a tree within a second, similarly, you understand the secret of “Hum so, so hum” within a second. We go around the cycle in this way, and this is also called the discus of self-realization. When you tell someone that you are a spinner of the discus of self realization, he wouldn’t believe you. He would say that you have given that title to yourself. You can then explain how you take 84 births. This cycle continues to turn. The soul has a vision of his 84 births. This is known as spinning the discus of self-realization. When they hear this, they will at first be amazed; they would think: What tall stories are they making up? Then, when you give them the Father’s introduction, they will no longer think that you are telling tall stories. You remember the Father. It is sung: Baba, when You come, we will surrender to You. We will only remember You. The Father says: You said this and so I am now reminding you of it. Become destroyers of attachment and destroy all attachment to your bodies too. Consider yourselves to be souls and remember Me alone and all your sins will be absolved. Everyone will enjoy these sweet things you tell them. If they don’t have the Father’s introduction, they continue to have doubts about one thing or another. This is why you must first place in front of them two or three pictures that also have the Father’s introduction. By receiving the Father’s introduction, they will also receive the introduction of the inheritance. The Father says: I make you into the kings of kings. Make a picture of the single-crowned kings bowing down to the double-crowned kings. They will then be able to understand the significance of being worthy of worship and of being a worshipper. First of all, they worship the Father and then they worship their own images. They make images of the pure ones who existed in the past and worship them. You receive this knowledge now. Previously, you used to say to God: You are worthy of worship and You are a worshipper. It has now been explained to you that you are the ones who go around this cycle. Always keep this knowledge in your intellects and you can then also explain to others. Your wealth never diminishes by donating it. Those who don’t donate wealth are called misers. You have to explain to others what the Father has explained to you. If you don’t explain to others, you cause yourself a loss unnecessarily. You won’t be able to imbibe virtues. Your behaviour will also become like that. Each of you can understand for yourself. You have now received understanding. Everyone else is senseless. You now know everything. The Father says: On this side, it is the deity community and on the other side, it is the Devil’s community. Your intellects can understand that you are now at the confluence age. One member of a family may belong to the confluence age, whereas another member may belong to the iron age; both would live together. Then, when it is seen that he is not worthy to be called a swan, a tactic has to be created. Otherwise he will continue to create obstacles. You have to make effort to make others similar to yourself. Otherwise they will continue to cause trouble. You would then have to find a way to move away from them. There will be obstacles. This knowledge is only given by you. You have to become very sweet. You also have to become destroyers of attachment. When you let go of one of the vices, others create complications. You then have to understand that everything is happening as it did in the previous cycle. By having this understanding you just remain quiet. You have understood destiny. Even some children who explain very well fall; they are slapped with a lot of force. It is then said: They must have been slapped in the previous cycle too. Each of you can understand internally. Some even write: Baba, I became angry and hit someone. I made this mistake. The Father explains: Control yourself as much as possible. There are so many different types of human being. There are so many assaults on innocent ones. Men are strong and women are weak. The Father once again teaches you how to battle in an incognito way through which you will be able to conquer Ravan. No one else has this battle in his intellect. Those of you who are able to understand this are also numberwise. This is a completely new thing. You are now studying in order to go to the land of happiness. You now remember this but you will then forget it. The main thing is the pilgrimage of remembrance. By having remembrance we will become pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whatever happens, consider it to be destiny and remain quiet. Don’t become angry. Control yourself as much as possible. Create ways to try and make others similar to yourself.
  2. Give everyone the Father’s introduction with a lot of love and humility. Tell everyone the sweet things that the Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me. Conquer all attachment to your body.
Blessing: May you be truly loving and co-operative and always wear your armour of humility to burn the Ravan of waste.
No matter how much someone tries to look for a weakness in your gathering, do not let the slightest conflict of sanskars or nature be visible. Even if someone swears at you or insults you, just become like a saint. Even if someone does something wrong, just remain right. When someone is causing conflict, give him the water of love. Do not pour oil on to fire with questions such as, “Why this? Why is it like this?” Always wear the armour of humility. Where there is humility, there will definitely be love and co-operation.
Slogan: Merge all limited feelings of the consciousness of “mine” into One, “My Baba”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

09-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारा यह टाइम बहुत-बहुत वैल्युबुल है, इसलिए इसे व्यर्थ मत गँवाओ, पात्र को देखकर ज्ञान दान करो”
प्रश्नः- गुणों की धारणा भी होती जाए और चलन भी सुधरती रहे उसकी सहज विधि क्या है?
उत्तर:- जो बाबा ने समझाया है – वह दूसरों को समझाओ। ज्ञान धन का दान करो तो गुणों की धारणा भी सहज होती जायेगी, चलन भी सुधरती रहेगी। जिनकी बुद्धि में यह नॉलेज नहीं रहती है, ज्ञान धन का दान नहीं करते, वह हैं मनहूस। वह मुफ्त अपने को घाटा डालते हैं।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना, अर्थ तो अच्छी रीति समझा। हम आत्मा हैं और बेहद बाप के बच्चे हैं – यह भुला न दो। अभी-अभी बाप की याद में हर्षित होते हैं, अभी-अभी फिर याद भूल जाने से गम में पड़ जाते हैं। अभी-अभी जीते हो, अभी-अभी मर पड़ते हो अर्थात् अभी-अभी बेहद के बाप के बनते हो, अभी-अभी फिर जिस्मानी परिवार तरफ चले जाते हो। तो बाप कहते हैं आज हंसे कल रो न देना। यह हुआ गीत का अर्थ।

तुम बच्चे जानते हो – बहुत करके मनुष्य शान्ति के लिए ही धक्का खाते हैं। तीर्थ यात्रा पर जाते हैं। ऐसे नहीं कि धक्का खाने से कोई शान्ति मिलती है। यह एक ही संगमयुग है, जब बाप आकर समझाते हैं। पहले-पहले तो अपने को पहचानो। आत्मा है ही शान्त स्वरूप। रहने का स्थान भी शान्तिधाम है। यहाँ आती है तो कर्म जरूर करना पड़ता है। जब अपने शान्तिधाम में है तो शान्त है। सतयुग में भी शान्ति रहती है। सुख भी है, शान्ति भी है। शान्तिधाम को सुखधाम नहीं कहेंगे। जहाँ सुख है उसे सुखधाम, जहाँ दु:ख है उसे दु:खधाम कहेंगे। यह सब बातें तुम समझ रहे हो। यह सब समझाने के लिए कोई को सम्मुख ही समझाया जाता है। प्रदर्शनी में जब अन्दर घुसते हैं तो पहले-पहले बाप का ही परिचय देना चाहिए। समझाया जाता है आत्माओं का बाप एक ही है। वही गीता का भगवान है। बाकी यह सब आत्मायें हैं। आत्मा शरीर छोड़ती और लेती है। शरीर के नाम ही बदलते हैं। आत्मा का नाम नहीं बदलता। तो तुम बच्चे समझा सकते हो – बेहद के बाप से ही सुख का वर्सा मिलता है। बाप सुख की सृष्टि स्थापन करते हैं। बाप दु:ख की सृष्टि रचे ऐसा तो होता नहीं। भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। चित्र भी हैं – बोलो यह सुख का वर्सा मिलता है। अगर कहे यह तो तुम्हारी कल्पना है तो एकदम छोड़ देना चाहिए। कल्पना समझने वाला कुछ भी समझेगा नहीं। तुम्हारा टाइम तो बहुत वैल्युबुल है। इस सारी दुनिया में तुम्हारे जितना वैल्युबुल टाइम कोई का है नहीं। बड़े-बड़े मनुष्यों का टाइम वैल्युबुल होता है। बाप का टाइम कितना वैल्युबुल है। बाप समझाकर क्या से क्या बना देते हैं। तो बाप तुम बच्चों को ही कहते हैं कि तुम अपना वैल्युबुल टाइम मत गँवाओ। नॉलेज पात्र को ही देनी है। पात्र को समझाना चाहिए – सब बच्चे तो समझ नहीं सकते, इतनी बुद्धि नहीं जो समझें। पहले-पहले बाप का परिचय देना है। जब तक यह नहीं समझते कि हम आत्माओं का बाप शिव है तो आगे कुछ भी नहीं समझ सकेंगे। बहुत प्यार, नम्रता से समझाकर रवाना कर देना चाहिए क्योंकि आसुरी सम्प्रदाय झगड़ा करने में देरी नहीं करेंगे। गवर्मेंन्ट स्टूडेन्ट की कितनी महिमा करती है। उन्हों के लिए कितने प्रबन्ध रखती है। कॉलेज के स्टूडेन्ट ही पहले-पहले पत्थर मारना शुरू करते हैं। जोश होता है ना। बूढ़े या मातायें तो पत्थर इतना जोर से लगा न सकें। अक्सर करके स्टूडेन्ट्स का ही शोर होता है। उन्हों को ही लड़ाई के लिए तैयार करते हैं। अब बाप आत्माओं को समझाते हैं – तुम उल्टे बन गये हो। अपने को आत्मा के बदले शरीर समझ लेते हो। अब बाप तुमको सीधा कर रहे हैं। कितना रात-दिन का फ़र्क हो जाता है। सीधा होने से तुम विश्व के मालिक बन जाते हो। अभी तुम समझते हो हम आधाकल्प उल्टे थे। अब बाप आधाकल्प के लिए सुल्टा बनाते हैं। अल्लाह के बच्चे हो जाते तो विश्व की बादशाही का वर्सा मिलता है। रावण उल्टा कर देते हैं तो कला काया चट हो जाती फिर गिरते ही रहते। रामराज्य और रावण राज्य को तुम बच्चे जानते हो। तुमको बाप की याद में रहना है। भल शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है फिर भी समय तो बहुत मिलता है। कोई जिज्ञासु आदि नहीं है, काम नहीं है तो बाप की याद में बैठ जाना चाहिए। वह तो है अल्पकाल के लिए कमाई और तुम्हारी यह है सदाकाल के लिए कमाई, इसमें अटेन्शन जास्ती देना पड़ता है। माया घड़ी-घड़ी और तरफ ख्यालात को ले जाती है। यह तो होगा ही। माया भुलाती रहेगी। इस पर एक नाटक भी दिखाते हैं – प्रभू ऐसे कहते, माया ऐसे कहती। बाप बच्चों को समझाते हैं मामेकम् याद करो, इसमें ही विघ्न पड़ते हैं। और कोई बात में इतने विघ्न नहीं पड़ते। पवित्रता पर कितनी मार खाते हैं। भागवत आदि में इस समय का ही गायन है। पूतनायें, सूपनखायें भी हैं, यह सब इस समय की बातें हैं जबकि बाप आकर पवित्र बनाते हैं। उत्सव आदि भी जो मनाते हैं, जो पास्ट हो गया है, उनका फिर त्योहार मनाते आते। पास्ट की महिमा करते आते हैं। रामराज्य की महिमा गाते हैं क्योंकि पास्ट हो गया है। जैसे क्राइस्ट आदि आये, धर्म स्थापन करके गये। तिथि तारीख भी लिख देते हैं फिर उनका बर्थ डे मनाते आते हैं। भक्ति मार्ग में भी यह धंधा आधाकल्प चलता है। सतयुग में यह होता नहीं। यह दुनिया ही खत्म हो जानी है। यह बातें तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो समझते हैं। बाप ने समझाया है सब आत्माओं को अन्त में वापिस जाना है। सब आत्मायें शरीर छोड़ चली जायेंगी। तुम बच्चों की बुद्धि में है – बाकी थोड़े दिन हैं। अब फिर से यह सब विनाश हो जाना है। सतयुग में सिर्फ हम ही आयेंगे। सभी आत्मायें तो नहीं आयेंगी। जो कल्प पहले आये थे वही नम्बरवार आयेंगे। वही अच्छी रीति पढ़कर और पढ़ा भी रहे हैं। जो अच्छा पढ़ते हैं वही फिर नम्बरवार ट्रांसफर होते हैं। तुम भी ट्रांसफर होते हो। तुम्हारी बुद्धि जानती है जो आत्मायें हैं सब नम्बरवार वहाँ शान्तिधाम में जाकर बैठेंगी फिर नम्बरवार आती रहेंगी। बाप फिर भी कहते हैं मूल बात है बाप का परिचय देना। बाप का नाम सदैव मुख में हो। आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है? दुनिया में कोई भी नहीं जानते। भल गाते हैं भृकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा…… बस जास्ती कुछ नहीं समझते। सो भी यह ज्ञान बहुत थोड़ों की बुद्धि में है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। पहले-पहले समझाना है बाप ही पतित-पावन है। वर्सा भी देते हैं, शाहनशाह बनाते हैं। तुम्हारे पास गीत भी है – आखिर वह दिन आया आज…… जिसका रास्ता भक्ति मार्ग में बहुत तकते थे। द्वापर से भक्ति शुरू होती है फिर अन्त में बाप आकर रास्ता बताते हैं। कयामत का समय भी इनको कहा जाता है। आसुरी बंधन का सब हिसाब-किताब चुक्तू कर फिर वापिस चले जाते हैं। 84 जन्मों के पार्ट को तुम जानते हो। यह पार्ट बजता ही रहता है। शिव जयन्ती मनाते हैं तो जरूर शिव आया होगा। जरूर कुछ किया होगा। वही नई दुनिया बनाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण मालिक थे, अब नहीं हैं। फिर बाप राजयोग सिखलाते हैं। यह राजयोग सिखाया था। तुम्हारे सिवाए और कोई के मुख में आ नहीं सकेगा। तुम ही समझा सकते हो। शिवबाबा हमको राजयोग सिखला रहे हैं। शिवोहम् का जो उच्चारण करते हैं वह भी रांग है। तुमको अब बाप ने समझाया है – तुम ही चक्र लगाए ब्राह्मण कुल से देवता कुल में आते हो। सो हम, हम सो का अर्थ भी तुम समझा सकते हो। अभी हम ब्राह्मण हैं यह 84 का चक्र है। यह कोई मंत्र जपने का नहीं है। बुद्धि में अर्थ रहना चाहिए। वह भी सेकेण्ड की बात है। जैसे बीज और झाड़ सेकेण्ड में सारा ध्यान में आ जाता है। वैसे हम सो का राज़ भी सेकेण्ड में आ जाता है। हम ऐसे चक्र लगाते हैं जिसको स्वदर्शन चक्र भी कहा जाता है। तुम किसको कहो हम स्वदर्शन चक्रधारी हैं तो कोई मानेंगे नहीं। कहेंगे यह तो सब अपने ऊपर टाइटिल रखते हैं। फिर तुम समझायेंगे कि हम 84 जन्म कैसे लेते हैं। यह चक्र फिरता है। आत्मा को अपने 84 जन्मों का दर्शन होता है, इसको ही स्वदर्शन चक्रधारी कहा जाता है। पहले तो सुनकर चमक जाते हैं। यह फिर क्या गपोड़ा लगाते हैं। जब तुम बाप का परिचय देंगे तो उनको गपोड़ा नहीं लगेगा। बाप को याद करते हैं। गाते भी हैं बाबा आप आयेंगे तो हम वारी जायेंगे। आपको ही याद करेंगे। बाप कहते हैं तुम कहते थे ना – अभी फिर तुमको याद दिलाता हूँ। नष्टोमोहा हो जाओ। इस देह से भी नष्टोमोहा हो जाओ। अपने को आत्मा समझ मुझे ही याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। यह मीठी बात सबको पसन्द आयेगी। बाप का परिचय नहीं होगा तो फिर किस न किस बात में संशय उठाते रहेंगे, इसलिए पहले तो 2-3 चित्र आगे रख दो, जिसमें बाप का परिचय हो। बाप का परिचय मिलने से वर्से का भी मिल जायेगा।

बाप कहते हैं – मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। यह चित्र बनाओ। डबल सिरताज राजाओं के आगे सिंगल ताज वाले माथा टेकते हैं। आपेही पूज्य आपेही पुजारी का भी राज़ समझ में आ जाए। पहले बाप की पूजा करते हैं फिर अपने ही चित्रों की बैठ पूजा करते हैं। जो पावन होकर गये हैं उनका चित्र बनाए बैठ पूजते हैं। यह भी तुमको अभी ज्ञान मिला है। आगे तो भगवान के लिए ही कह देते थे आपेही पूज्य आपेही पुजारी। अब तुमको समझाया गया है – तुम ही इस चक्र में आते हो। बुद्धि में यह नॉलेज सदैव रहती है और फिर समझाना भी है। धन दिये धन ना खुटे… जो धन दान नहीं करते हैं उनको मनहूस भी कहते हैं। बाप ने जो समझाया है वह फिर दूसरों को समझाना है। नहीं समझायेंगे तो मुफ्त अपने को घाटा डालेंगे। गुण भी धारण नहीं होंगे। चलन ही ऐसी हो जायेगी। हर एक अपने को समझ तो सकते हैं ना। तुमको अब समझ मिली है। बाकी सब हैं बेसमझ। तुम सब कुछ जानते हो। बाप कहते हैं इस तरफ है दैवी सम्प्रदाय, उस तरफ है आसुरी सम्प्रदाय। बुद्धि से तुम जानते हो अभी हम संगमयुग पर हैं। एक ही घर में एक संगमयुग का, एक कलियुग का, दोनों इकट्ठे रहते हैं। फिर देखा जाता है हंस बनने लायक नहीं हैं तो युक्ति रची जाती है। नहीं तो विघ्न डालते रहेंगे। कोशिश करनी है आप समान बनाने की। नहीं तो तंग करते रहेंगे फिर युक्ति से किनारा करना पड़ता है। विघ्न तो पड़ेंगे। ऐसी नॉलेज तो तुम ही देते हो। मीठा भी बहुत बनना है। नष्टोमोहा भी होना पड़े। एक विकार को छोड़ा तो फिर और विकार खिट-खिट मचाते हैं। समझा जाता है जो कुछ होता है कल्प पहले मुआफिक। ऐसे समझ शान्त रहना पड़ता है। भावी समझी जाती है। अच्छे-अच्छे समझाने वाले बच्चे भी गिर पड़ते हैं। बड़ी जोर से चमाट खा लेते हैं। फिर कहा जाता है कल्प पहले भी चमाट खाई होगी। हर एक अपने अन्दर में समझ सकते हैं। लिखते भी हैं बाबा हम क्रोध में आ गये, फलाने को मारा यह भूल हुई। बाप समझाते हैं जितना हो सके कन्ट्रोल करो। कैसे-कैसे मनुष्य हैं, अबलाओं पर कितने अत्याचार करते हैं। पुरूष बलवान होते हैं, स्त्री अबला होती है। बाप फिर तुमको यह गुप्त लड़ाई सिखलाते हैं जिससे तुम रावण पर जीत पाते हो। यह लड़ाई कोई की बुद्धि में नहीं है। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं जो समझ सकते हैं। यह है बिल्कुल नई बात। अभी तुम पढ़ रहे हो – सुखधाम के लिए। यह भी अभी याद है फिर भूल जायेगी। मूल बात है ही याद की यात्रा। याद से हम पावन बन जायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कुछ भी होता है तो भावी समझ शान्त रहना है। क्रोध नहीं करना है। जितना हो सके अपने आपको कन्ट्रोल करना है। युक्ति रच आपसमान बनाने की कोशिश करनी है।

2) बहुत प्यार और नम्रता से सबको बाप का परिचय देना है। सबको यही मीठी-मीठी बात सुनाओ कि बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो, इस देह से नष्टोमोहा हो जाओ।

वरदान:- नम्रता रूपी कवच द्वारा व्यर्थ के रावण को जलाने वाले सच्चे स्नेही, सहयोगी भव
कोई कितना भी आपके संगठन में कमी ढूंढने की कोशिश करे लेकिन जरा भी संस्कार-स्वभाव का टक्कर दिखाई न दे। अगर कोई गाली भी दे, इनसल्ट भी करे, आप सेन्ट बन जाओ। अगर कोई रांग भी करता तो आप राइट रहो। कोई टक्कर लेता है तो भी आप उसे स्नेह का पानी दो। यह क्यों, ऐसा क्यों-यह संकल्प करके आग पर तेल नहीं डालो। नम्रता का कवच पहनकर रहो। जहाँ नम्रता होगी वहाँ स्नेह और सहयोग भी अवश्य होगा।
स्लोगन:- मेरेपन की अनेक हद की भावनायें एक “मेरे बाबा” में समा दो।

TODAY MURLI 9 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 November 2019

09/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your remembrance is very wonderful because you remember the Father, the Teacher and the Satguru, all three, together.
Question: When Maya makes some children arrogant, what is it they don’t care about?
Answer: Arrogant children come into body consciousness and have “a don’t care” attitude about the murli. There is a saying that when a mouse found a piece of turmeric he thought that he was a grocer. There are many who don’t read the murli at all and say that they have a direct connection with Shiv Baba. Baba says: Children, there are always new things in the murli, so never miss a murli. Let there be a lot of attention paid to this.

Om shanti. The spiritual Father asks you sweetest, long-lost and now-found children: In whose remembrance are you sitting here? (The Father, the Teacher and the Satguru.) Are all of you sitting in remembrance of all three? Each of you should ask yourself: “Do I have remembrance only when I am sitting here, or do I also have remembrance whilst moving around?” This is a wonderful aspect which is not told to other souls. Although Lakshmi and Narayan are the masters of the world, you cannot say of those souls that they are the Father, the Teacher and the Satguru. In fact, you cannot say this of any other human being in the whole world. It is only you children who remember Him in this way. You feel internally that that Baba is your Father, your Teacher and your Satguru and that He is the Supreme. Do you remember all three or only one? Although He is only one, you remember Him with the qualities of all three forms. Shiv Baba is our Father, Teacher and Satguru as well. This is something extraordinary. You should remember this whilst sitting down and also whilst walking and moving around. Baba asks: Do you have the thought whilst remembering Him that He is your Father, Teacher and Satguru? There can be no such bodily being. Krishna is the number one bodily being, but he cannot be called the Father, Teacher or Satguru. This is an absolutely wonderful aspect. So, you should say truthfully whether you remember Baba in all three forms. At the time of eating, do you only remember Shiv Baba or do all three emerge in your intellects? You cannot refer to any other soul in this way. This is a wonderful thing. The Father’s praise is unique and so you should also remember the Father in this way. Your intellects will then be completely drawn to the One who is so wonderful. The Father sits here and introduces Himself and also gives you knowledge of the whole cycle and of these different ages and how many years each one lasts and how it rotates. Only that Father, the Creator, can give you this knowledge. You will receive a lot of help by remembering Him. He alone is the Father, Teacher and Guru. No other soul can be as elevated as He is. However, Maya makes you forget to remember such a Father and you then forget the Teacher and the Guru too. Each of you should feel in your heart that the Father is making you into a master of such a world. The inheritance of the unlimited Father is definitely unlimited. His praise should also emerge in your intellects. As you walk and move around, all three should be remembered. Only that soul does all three types of service at the same time. This is why He is called the Supreme. People arrange conferences etc. to find a means of establishing peace in the world. Tell them that this is happening now and so they should come here to understand how. Who is doing this? You have to prove the Father’s occupation to people. There is a vast difference between the Father’s occupation and Krishna’s occupation. Everyone else is called by their bodily names, whereas the name of that one soul is praised. That soul is the Father, the Teacher and the Guru. There is knowledge in that soul, but how can He give it? He can only give this knowledge through a body. It is when He gives this knowledge that He is praised. You children hold conferences on Shiv Jayanti. You invite the leaders of all the different religions. You have to explain that God is not omnipresent. If God is in everyone, then is every soul God, the Father, the Teacher and the Guru? Tell me: Do you have the knowledge of the beginning, middle and end of the world cycle? No one can tell you this. There is such great praise of the highest-on-high Father which should emerge from inside you children. He is the One who purifies the whole world. Matter too becomes pure. At the time of a conference, you should first ask: Who is the God of the Gita? Who established the golden-aged deity religion? If they say that it was Krishna, the Father’s name disappears. Or, if they say that He is beyond name and form, it is as though He does not exist. Therefore, without the Father, it means they are orphans. They just do not know the unlimited Father. They use the sword of lust and cause so much distress and sorrow for one another. Therefore, your intellects should churn all of these things. You have to show them the contrast: Lakshmi and Narayan are a goddess and god. Because theirs is a dynasty, they must all be gods and goddesses. So, you should invite people from all religions. You must only invite those who are well educated and who can clearly give the Father’s introduction. You can write to them and say that we will make arrangements for the travel and accommodation of those who are able to give the introduction of the Creator and the beginning, middle and end of creation. You know that no one else can give this knowledge. Even if someone comes from abroad and can give the introduction of the Creator and the beginning, middle and end of creation, we would pay all his expenses. No one else can advertise in this way. You are courageous; you are mahavirs. Do you know how they (Lakshmi and Narayan) claimed the kingdom of the world? What kind of courage did they have? All of these things should enter your intellects. You are carrying out such an elevated task! You are purifying the whole world. Therefore, you have to remember the Father and the inheritance. You should not just remember Shiv Baba, but you must also speak of His praise. This praise only belongs to the Incorporeal, but how can the Incorporeal give His introduction? He definitely needs a mouth in order to give the knowledge of the beginning, middle and end of creation. This mouth is praised a great deal. People stumble around so much to go to a Gaumukh (cow’s mouth). They have created all sorts of stories. They say that an arrow was shot and the Ganges emerged. They think that the Ganges is the Purifier. How can anyone be purified by water? Only the Father is the Purifier. The Father continues to teach you children so much! The Father tells you what to do. So, who is going to come and give the introduction of the Father, the Creator and creation? Sages and holy men know that even the rishis and munis used to say: Neti, neti (Neither this nor that), we do not know anything. That means that they were atheists. Now, see if there is anyone who is a theist! You children are now becoming theists from atheists. You know the unlimited Father, the One who makes you so elevated. People call out: O God, the Fatherliberate us! The Father explains: At this time, it is the kingdom of Ravan over the whole world. All are corrupt but they will become elevated again. It is in the intellects of you children that the world was pure in the beginning. The Father does not create an impure world. He comes and creates the pure world which is called the Temple of Shiva. Shiv Baba creates Shivalaya (the Temple of Shiva). You know how He does this. Neither does total annihilation take place nor does a total flood take place. They have written all sorts of things in the scriptures, such as: Only the five Pandavas were left and they then melted away on the Himalayan mountains. However, no one knows what happened after that. The Father sits here and explains all of these things. Only you know that the Father is the Father, the Teacher and the Satguru. These temples do not exist there. The deities used to exist; their memorial temples exist here. All of this is fixed in the dramaSecond by second, something new takes place as the cycle continues to turn. The Father gives very good directions to you children. Some children who are very body conscious think that they know everything. They do not even read the murli; they don’t value it at all. Baba urges you: Sometimes, a murli is very good. Therefore, you should not miss it! If you have missed the murli for ten or fifteen days, you should sit and read them. The Father says: Challenge them and say that if anyone comes and gives the knowledge of the Creator and the beginning, middle and end of creation, we will pay all his expenses. Only those who know about this will be able to issue this challenge in this way. Only when a teacher knows the answer can he ask a question. How could a teacher ask a question without knowing the answer? Some children have a “don’t care” attitude about the murli. They say: We just have a connection with Shiv Baba. However, you also have to listen to the things that Shiv Baba says, not just remember Him. Baba tells you such good, sweet things, but Maya makes you completely arrogant. There is a saying that a mouse found a piece of turmeric and thought he had become a grocer. There are many who do not read the murli at all. New points keep coming up in the murli. Therefore, you have to understand all of these things. When you are sitting in remembrance of the Father, you also have to remember that this Father is the Father, the Teacher and the Satguru. Otherwise, how would you study? The Father has explained everything to you children. It is you children who will reveal the Father. Son shows Father and Father shows son. It is souls that are shown. Then, it is the children’s task to show (reveal) the Father. The Father will not then let go of you. He will say: Today, go to this place and tomorrow, go somewhere else. There is no one who can order that One. People will read this invitation in the newspapers. At this time, all the people in the world are atheists. The Father alone comes and makes you into theists. At this time, the whole world is worth not a penny. No matter how much wealth and property America has, it is not worth a penny; all of that is going to finish. Out of thewhole world, only you become worth a pound. There, no one will be poverty-stricken. You children should constantly churn this knowledge and remain cheerful. It has been remembered: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. These things only apply at the confluence age. No one else knows about the confluence age. By serving at a fast speed, praise of the confluence age may emerge. It has been said: O God, Your play is wonderful! No one knows that God is the Father, the Teacher and the Satguru. The Father continues to teach you children. This intoxication should remain permanently in you children. You should have this intoxication until the very end. The intoxication now very quickly becomes like soda water: soda goes flat. If you keep it for a while, it just becomes salty water. This should not happen. You should explain to people in such a way that they begin to wonder. They say that it is good, but it is very difficult for them to make time to understand and make their lives like this. Baba does not forbid you to do business etc. Just become pure and remember everything that Baba teaches you. That One is your Teacher and this is an uncommon study. No human being can teach you this knowledge. The Father enters this lucky chariot and teaches you. The Father has explained: This is your throne on which the soul, the immortal image, comes and sits. You have been given that entire part. You now understand that this is something real. All other things are artificial. You must imbibe this very well and tie a knot, so that every time you touch it you will remember. However, you sometimes forget why that knot has been tied. You have to remember this very firmly. There must be knowledge as well as remembrance of the Father. There is liberation, as well as liberation-in-life. Become very sweet children! Although Baba understands that you children study every cycle and claim your inheritance, numberwise, according to the effort you make, the Teacher who teaches you still inspires you to make effort. You repeatedly forget, which is why you are reminded to remember Shiv Baba. He is your Father, Teacher and Satguru. Small children would not have remembrance in this way. You cannot say of Krishna that he is the Father, the Teacher and the Satguru. How could the prince of the golden age, Shri Krishna, be a guru? You need a guru at a time of degradation. It has been remembered that the Father comes and grants everyone salvation. They make Krishna as dark as coal. The Father says: By sitting on the pyre of lust, everyone at this time has become like coal. That is why he is called ugly. These are such deep matters to understand. Everyone studies the Gita. It is only the people of Bharat who believe in all the scriptures. They keep everyone’s image. So, then, what can you say about that? It means that their devotion is adulterated. Unadulterated devotion is of only the one Shiva. Only from Shiv Baba do you receive knowledge. This knowledge is different. This is called spiritual knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce the intoxication of perishable things and keep the spiritual intoxication of now changing from being worth not a penny to being worth a poundGod, Himself, is teaching you and your study is uncommon.
  2. Become theists and serve to reveal the Father. You must not become arrogant and miss any murli.
Blessing: May you become a soul with all rights and remain free from having to work hard by receiving blessings from the Bestower of Blessings at every step.
The children of the Bestower of Blessings automatically receive blessings at every step from the Bestower of Blessings. Blessings are their sustenance; they are sustained with the sustenance of blessings. One who has such elevated attainments without making effort is said to be blessed. So, you have claimed a right to attainment for birth after birth. You are receiving blessings from the Bestower of Blessings at every step and you will constantly continue to receive them. For a soul who has all rights, there is nothing but blessings: blessings through drishti, words and relationship.
Slogan: Intensify the speed of your efforts according to the speed of time.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 November 2019

09-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी याद बहुत वन्डरफुल है क्योंकि तुम एक साथ ही बाप, टीचर और सतगुरू तीनों को याद करते हो”
प्रश्नः- किसी भी बच्चे को माया जब मगरूर बनाती है तो किस बात की डोंटकेयर करते हैं?
उत्तर:- मगरूर बच्चे देह-अभिमान में आकर मुरली को डोन्ट-केयर करते है, कहावत है ना-चूहे को हल्दी की गांठ मिली, समझा मै पंसारी हूँ…। बहुत हैं जो मुरली पढ़ते ही नहीं, कह देते हैं हमारा तो डायरेक्ट शिवबाबा से कनेक्शन हैं। बाबा कहते बच्चे मुरली में तो नई-नई बातें निकलती हैं इसलिए मुरली कभी मिस नहीं करना, इस पर बहुत अटेन्शन रहे।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों से रूहानी बाप पूछते हैं यहाँ तुम बैठे हो, किसकी याद में बैठे हो? (बाप, शिक्षक, सतगुरू की) सभी इन तीनों की याद में बैठे हो? हर एक अपने से पूछे यह सिर्फ यहाँ बैठे याद है या चलते-फिरते याद रहती है? क्योंकि यह है वन्डरफुल बात। और कोई आत्मा को कभी ऐसे नहीं कहा जाता। भल यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक हैं परन्तु उनकी आत्मा को कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि यह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। बल्कि सारी दुनिया में जो भी जीव आत्मायें है, कोई भी आत्मा को ऐसे नहीं कहेंगे। तुम बच्चे ही ऐसे याद करते हो। अन्दर में आता है यह बाबा, बाबा भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। सो भी सुप्रीम। तीनों को याद करते हो या एक को? भल वह एक है परन्तु तीनों गुणों से याद करते हो। शिवबाबा हमारा बाप भी है, टीचर और सतगुरू भी है। यह एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी कहा जाता है। जब बैठे हो अथवा चलते फिरते हो तो यह याद रहना चाहिए। बाबा पूछते हैं ऐसे याद करते हो कि यह हमारा बाप, टीचर, सतगुरू भी है। ऐसा कोई भी देहधारी हो नहीं सकता। देहधारी नम्बरवन है कृष्ण, उनको बाप, टीचर, सतगुरू कह नहीं सकते, यह बिल्कुल वन्डरफुल बात है। तो सच बताना चाहिए तीनों रूप में याद करते हो? भोजन पर बैठते हो तो सिर्फ शिवबाबा को याद करते हो या तीनों बुद्धि में आते हैं? और तो कोई भी आत्मा को ऐसे नहीं कह सकते। यह है वन्डरफुल बात। विचित्र महिमा है बाप की। तो बाप को याद भी ऐसे करना है। तो बुद्धि एकदम उस तरफ चली जायेगी जो ऐसा वन्डरफुल है। बाप ही बैठ अपना परिचय देते हैं फिर सारे चक्र का भी नॉलेज देते हैं। ऐसे यह युग हैं, इतने-इतने वर्ष के हैं जो फिरते रहते हैं। यह ज्ञान भी वह रचयिता बाप ही देते हैं। तो उनको याद करने में बहुत मदद मिलेगी। बाप, टीचर, गुरू वह एक ही है। इतनी ऊंच आत्मा और कोई हो नहीं सकती। परन्तु माया ऐसे बाप की याद भी भुला देती है तो टीचर और गुरू को भी भूल जाते हैं। यह हर एक को अपने-अपने दिल से लगाना चाहिए। बाबा हमको ऐसा विश्व का मालिक बनायेंगे। बेहद के बाप का वर्सा जरूर बेहद का ही है। साथ-साथ यह महिमा भी बुद्धि में आये, चलते-फिरते तीनों ही याद आयें। इस एक आत्मा की तीनों ही सर्विस इकट्ठी हैं इसलिए उनको सुप्रीम कहा जाता है।

अब कॉन्फ्रेन्स आदि बुलाते हैं, कहते हैं विश्व में शान्ति कैसे हो? वह तो अब हो रही है, आकर समझो। कौन कर रहे हैं? तुमको बाप का आक्यूपेशन सिद्ध कर बताना है। बाप के आक्यूपेशन और कृष्ण के आक्यूपेशन में बहुत फ़र्क है। और तो सबका नाम शरीर का ही लिया जाता है। उनकी आत्मा का नाम गाया जाता है। वह आत्मा बाप भी है, टीचर, गुरू भी है। आत्मा में नॉलेज है परन्तु वह दे कैसे? शरीर द्वारा ही देंगे ना। जब देते हैं तब तो महिमा गाई जाती है। अब शिव जयन्ती पर बच्चे कॉन्फ्रेन्स करते हैं। सब धर्म के नेताओं को बुलाते हैं। तुमको समझाना है ईश्वर सर्वव्यापी तो है नहीं। अगर सबमें ईश्वर है तो क्या हर एक आत्मा भगवान बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है! बताओ सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का नॉलेज है? यह तो कोई भी सुना न सके।

तुम बच्चों के अन्दर में आना चाहिए ऊंच ते ऊंच बाप की कितनी महिमा है। वह सारे विश्व को पावन बनाने वाला है। प्रकृति भी पावन बन जाती है। कान्फ्रेन्स में पहले-पहले तो तुम यह पूछेंगे कि गीता का भगवान् कौन है? सतयुगी देवी-देवता धर्म की स्थापना करने वाला कौन? अगर कृष्ण के लिए कहेंगे तो बाप को गुम कर देंगे या तो फिर कह देते वह नाम-रूप से न्यारा है। जैसेकि है ही नहीं। तो बाप बिगर आरफन्स ठहरे ना। बेहद के बाप को ही नहीं जानते। एक दो पर काम कटारी चलाकर कितना तंग करते हैं। एक-दो को दु:ख देते हैं। तो यह सब बातें तुम्हारी बुद्धि में चलनी चाहिए। कॉन्ट्रास्ट करना है-यह लक्ष्मी-नारायण भगवान-भगवती हैं ना, इन्हों की भी वंशावली है ना। तो जरूर सब ऐसे गॉड-गॉडेज होने चाहिए। तो तुम सब धर्म वालों को बुलाते हो। जो अच्छी रीति पढ़े-लिखे हैं, बाप का परिचय दे सकते हैं, उनको ही बुलाना है। तुम लिख सकते हो जो आकर रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का परिचय देवे उनके लिए हम आने-जाने, रहने आदि का सब प्रबन्ध करेंगे-अगर रचता और रचना का परिचय दिया तो। यह तो जानते हैं कोई भी यह ज्ञान दे नहीं सकते। भल कोई विलायत से आवे, रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का परिचय दिया तो हम खर्चा दे देंगे। ऐसी एडवरटाइज़ और कोई कर न सके। तुम तो बहादुर हो ना। महावीर-महावीरनियाँ हो। तुम जानते हो इन्हों ने (लक्ष्मी-नारायण) विश्व की बादशाही कैसे ली? कौन-सी बहादुरी की? बुद्धि में यह सब बातें आनी चाहिए। कितना तुम ऊंच कार्य कर रहे हो। सारे विश्व को पावन बना रहे हो। तो बाप को याद करना है, वर्सा भी याद करना है। सिर्फ यह नहीं कि शिवबाबा याद है। परन्तु उनकी महिमा भी बतानी है। यह महिमा है ही निराकार की। परन्तु निराकार अपना परिचय कैसे दे? जरूर रचना के आदि, मध्य, अन्त का नॉलेज देने लिए मुख चाहिए ना। मुख की कितनी महिमा है। मनुष्य गऊमुख पर जाते हैं, कितना धक्का खाते हैं। क्या-क्या बातें बना दी हैं। तीर मारा गंगा निकल आई। गंगा को समझते हैं पतित-पावनी। अब पानी कैसे पतित से पावन बना सकता। पतित-पावन तो बाप ही है। तो बाप तुम बच्चों को कितना सिखलाते रहते हैं। बाप तो कहते हैं ऐसे ऐसे करो। कौन आकर बाप रचयिता और रचना का परिचय देंगे। साधू-सन्यासी आदि यह भी जानते हैं कि ऋषि-मुनि आदि सब कहते थे-नेती-नेती, हम नहीं जानते हैं, गोया नास्तिक थे। अब देखो कोई आस्तिक निकलता है? अभी तुम बच्चे नास्तिक से आस्तिक बन रहे हो। तुम बेहद के बाप को जानते हो जो तुमको इतना ऊंच बनाते हैं। पुकारते भी हैं-ओ गॉड फादर, लिबरेट करो। बाप समझाते हैं, इस समय रावण का सारे विश्व पर राज्य है। सब भ्रष्टाचारी हैं फिर श्रेष्ठाचारी भी होंगे ना। तुम बच्चों की बुद्धि में है – पहले-पहले पवित्र दुनिया थी। बाप अपवित्र दुनिया थोड़ेही बनायेंगे। बाप तो आकर पावन दुनिया स्थापन करते हैं, जिसको शिवालय कहा जाता है। शिवबाबा शिवालय बनायेंगे ना। वह कैसे बनाते हैं सो भी तुम जानते हो। महाप्रलय, जलमई आदि तो होती नहीं। शास्त्रों में तो क्या-क्या लिखा है। बाकी 5 पाण्डव बचे जो हिमालय पहाड़ पर गल गये, फिर रिजल्ट का कोई को पता नहीं। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। यह भी तुम ही जानते हो-वह बाप, बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। वहाँ तो यह मन्दिर होते नहीं। यह देवतायें होकर गये हैं, जिनके यादगार मन्दिर यहाँ हैं। यह सब ड्रामा में नूँध है। सेकण्ड बाई सेकण्ड नई बात होती रहती है, चक्र फिरता रहता है। अब बाप बच्चों को डायरेक्शन तो बहुत अच्छे देते हैं। बहुत देह-अभिमानी बच्चे हैं जो समझते हैं हम तो सब कुछ जान गये हैं। मुरली भी नहीं पढ़ते हैं। कदर ही नहीं है। बाबा ताकीद करते हैं, कोई-कोई समय मुरली बहुत अच्छी चलती है। मिस नहीं करना चाहिए। 10-15 दिन की मुरली जो मिस होती है वह बैठ पढ़नी चाहिए। यह भी बाप कहते हैं ऐसी-ऐसी चैलेन्ज दो-यह रचता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का नॉलेज कोई आकर दे तो हम उनको खर्चा आदि सब देंगे। ऐसी चैलेन्ज तो जो जानते हैं वह देंगे ना। टीचर खुद जानता है तब तो पूछते हैं ना। बिगर जाने पूछेंगे कैसे।

कोई-कोई बच्चे मुरली की भी डोन्टकेयर करते हैं। बस हमारा तो शिवबाबा से ही कनेक्शन है। परन्तु शिवबाबा जो सुनाते हैं वह भी सुनना है ना कि सिर्फ उनको याद करना है। बाप कैसे अच्छी-अच्छी मीठी-मीठी बातें सुनाते हैं। परन्तु माया बिल्कुल ही मगरूर कर देती है। कहावत है ना-चूहे को हल्दी की गांठ मिली, समझा मै पंसारी हूँ…….। बहुत हैं जो मुरली पढ़ते ही नहीं। मुरली में तो नई-नई बातें निकलती हैं ना। तो यह सब बातें समझने की हैं। जब बाप की याद में बैठते हो तो यह भी याद करना है कि वह बाप टीचर भी है और सतगुरू भी है। नहीं तो पढ़ेंगे कहाँ से। बाप ने तो बच्चों को सब समझा दिया है। बच्चे ही बाप का शो करेंगे। सन शोज़ फादर। सन का फिर फादर शो करते हैं। आत्मा का शो करते हैं। फिर बच्चों का काम है बाप का शो करना। बाप भी बच्चों को छोड़ते नहीं हैं, कहेंगे आज फलानी जगह जाओ, आज यहाँ जाओ। इनको थोड़ेही कोई ऑर्डर करने वाले होंगे। तो यह निमंत्रण आदि अखबारों में पड़ेंगे। इस समय सारी दुनिया है नास्तिक। बाप ही आकर आस्तिक बनाते हैं। इस समय सारी दुनिया है वर्थ नाट ए पेनी। अमेरिका के पास भल कितना भी धन दौलत है परन्तु वर्थ नाट ए पेनी है। यह तो सब खत्म हो जाना है ना। सारी दुनिया में तुम वर्थ पाउण्ड बन रहे हो। वहाँ कोई कंगाल होगा नहीं।

तुम बच्चों को सदैव ज्ञान का सिमरण कर हर्षित रहना चाहिए। उसके लिए ही गायन है-अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो। यह संगम की ही बातें हैं। संगमयुग को कोई भी जानते नहीं। विहंग मार्ग की सर्विस करने से शायद महिमा निकले। गायन भी है अहो प्रभू तेरी लीला। यह कोई भी नहीं जानते थे कि भगवान बाप, टीचर, सतगुरू भी है। अब फादर तो बच्चों को सिखलाते रहते हैं। बच्चों को यह नशा स्थाई रहना चाहिए। अन्त तक नशा रहना चाहिए। अभी तो नशा झट सोडावाटर हो जाता है। सोडा भी ऐसे होता है ना। थोड़ा टाइम रखने से जैसे खारापानी हो जाता है। ऐसा तो नहीं होना चाहिए। किसको ऐसा समझाओ जो वह भी वन्डर खाये। अच्छा-अच्छा कहते भी हैं परन्तु वह फिर टाइम निकाल समझें, जीवन बनावें वह बड़ा मुश्किल है। बाबा कोई मना नहीं करते हैं कि धन्धा आदि नहीं करो। पवित्र बनो और जो पढ़ाता हूँ वह याद करो। यह तो टीचर है ना। और यह है अनकॉमन पढ़ाई। कोई मनुष्य नहीं पढ़ा सकते। बाप ही भाग्यशाली रथ पर आकर पढ़ाते हैं। बाप ने समझाया है – यह तुम्हारा तख्त है जिस पर अकाल मूर्त आत्मा आकर बैठती है। उनको यह सारा पार्ट मिला हुआ है। अभी तुम समझते हो यह तो रीयल बात है। बाकी यह सब हैं आर्टीफिशल बातें। यह अच्छी रीति धारण कर गांठ बाँध लो। तो हाथ लगने से याद आयेगा। परन्तु गाँठ क्यों बाँधी है, वह भी भूल जाते हैं। तुमको तो यह पक्का याद करना है। बाप की याद के साथ नॉलेज भी चाहिए। मुक्ति भी हैं तो जीवनमुक्ति भी है। बहुत मीठे-मीठे बच्चे बनो। बाबा अन्दर में समझते हैं कल्प-कल्प यह बच्चे पढ़ते रहते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ही वर्सा लेंगे। फिर भी पढ़ाने का टीचर पुरूषार्थ तो करायेंगे ना। तुम घड़ी-घड़ी भूल जाते हो इसलिए याद कराया जाता है। शिवबाबा को याद करो। वह बाप, टीचर, सतगुरू भी है। छोटे बच्चे ऐसे याद नहीं करेंगे। कृष्ण के लिए थोड़ेही कहेंगे वह बाप, टीचर, सतगुरू है। सतयुग का प्रिन्स श्रीकृष्ण वह फिर गुरू कैसे बनेगा। गुरू चाहिए दुर्गति में। गायन भी है – बाप आकर सबकी सद्गति करते हैं। कृष्ण को तो सांवरा ऐसा बना देते जैसे काला कोयला। बाप कहते हैं इस समय सब काम चिता पर चढ़ काले कोयले बन पड़े हैं तब सांवरा कहा जाता है। कितनी गुह्य बातें समझने की हैं। गीता तो सब पढ़ते हैं। भारतवासी ही हैं जो सभी शास्त्रों को मानते हैं। सबके चित्र रखते रहेंगे। तो उनको क्या कहेंगे? व्यभिचारी भक्ति ठहरी ना। अव्यभिचारी भक्ति एक ही शिव की है। ज्ञान भी एक ही शिवबाबा से मिलता है। यह ज्ञान ही डिफरेन्ट है, इसको कहा जाता है स्प्रीचुअल नॉलेज। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुड मॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विनाशी नशे को छोड़ अलौकिक नशा रहे कि हम अभी वर्थ नाट पेनी से वर्थ पाउण्ड बन रहे है। स्वयं भगवान् हमें पढ़ाते हैं, हमारी पढ़ाई अनकॉमन है।

2) आस्तिक बन बाप का शो करने वाली सर्विस करनी है। कभी भी मगरूर बन मुरली मिस नहीं करनी है।

वरदान:- हर कदम में वरदाता से वरदान प्राप्त कर मेहनत से मुक्त रहने वाले अधिकारी आत्मा भव
जो हैं ही वरदाता के बच्चे उन्हों को हर कदम में वरदाता से वरदान स्वत: ही मिलते हैं। वरदान ही उनकी पालना है। वरदानों की पालना से ही पलते हैं। बिना मेहनत के इतनी श्रेष्ठ प्राप्तियां होना इसे ही वरदान कहा जाता है। तो जन्म-जन्म प्राप्ति के अधिकारी बन गये। हर कदम में वरदाता का वरदान मिल रहा है और सदा ही मिलता रहेगा। अधिकारी आत्मा के लिए दृष्टि से, बोल से, संबंध से वरदान ही वरदान है।
स्लोगन:- समय की रफ्तार के प्रमाण पुरुषार्थ की रफ्तार तीव्र करो।

TODAY MURLI 9 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 November 2018 :- Click Here

09/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to attain liberation and liberation-in-life in a second, become “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”.Recognise the Father accurately. Remember the Father and give everyone His introduction.
Question: On the basis of which intoxication are you able to show (reveal) the Father?
Answer: Have the intoxication that we have now become God’s children and that He is teaching us. We have to show all human beings the true path. We are now at the confluence age. We have to glorify the Father’s name through our royal behaviour. Tell everyone the Father’s praise and Krishna’s praise.
Song: You are the fortune of tomorrow. 

Om shanti. This song was sung for freedom fighters. However, the people of Bharat do not know what is meant by “The fortune of the world”. It is a question of the whole world. No human being can change the fortune of the whole world, change it from hell into heaven. This praise does not belong to a human being. If this were said of Krishna, no one would have been able to defame him. Human beings don’t understand how Krishna could have seen the eclipsed moon on the fourth night and he was therefore defamed. In fact, neither Krishna nor the God of the Gita can ever be defamed. It is Brahma who is defamed. Krishna has been defamed but only by them saying that he abducted women. No one knows about Shiv Baba. People definitely run after God, but God can never be defamed. Neither God nor Krishna can be defamed. The praise of both is very powerful. Krishna’s praise is number one. There isn’t as much praise of Lakshmi and Narayan because they are married. Krishna is a kumar; this is why he receives more praise. They sing the same praise of Lakshmi as of Narayan, of how they are 16 celestial degrees completely full and completely viceless, but they have put Krishna in the copper age. They think that that praise has continued since the beginning of time. You children understand all of these things. This is Godly knowledge and it was God who established the kingdom of Rama (God). Human beings don’t understand what the kingdom of Rama (God) is. The Father comes and gives the explanation of this. Everything depends on the Gita. Wrong things have been written in the Gita. No war took place between the Kauravas and the Pandavas, and so the question of Arjuna doesn’t arise. The Father sits here and teaches you in this school. There wouldn’t be a school on a battlefield. Yes, there is this battle with Maya, Ravan over whom you have to gain victory. You have to become conquerors of Maya and conquerors of the world. However, people do not understand these things even slightly. It is fixed in the drama for them to come later on and understand. Only you children can explain these aspects to them. There is no question of shooting arrows of violence at Bhishampitamai etc. Many such things have been written in the scriptures. You mothers should go and spend some time with those people. Tell them: We want to talk to you in connection with this. It was God who spoke the Gita. That is God’s praise. Krishna is separate. We don’t agree with this. Rudra, God Shiva, says that this is His sacrificial fire of knowledge of Rudra. This is the sacrificial fire of knowledge of the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. Human beings then say: God Krishna speaks, but only the One can in fact be called God. You should write His praise and then write what the praise of Krishna is. Now, of the two, who is the God of the Gita? “Easy Raja Yoga” is mentioned in the Gita. The Father says: Have unlimited renunciation. Renounce the consciousness of your body and all your bodily relations and consider yourself to be a soul. Manmanabhav! Madhyajibhav! The Father explains everything very clearly. The Gita contains the shrimat spoken by God. Shri means the most elevated, and so this would apply to Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul. Krishna is a human being with divine qualities. Shiva is the God of the Gita, the One who taught Raja Yoga. At the end, all the other religions are definitely destroyed and the one religion established. In the golden age, there was only the one original deity religion. It was not Krishna but God who established it. This praise belongs to God. He is called the Mother, the Father. Krishna cannot be called this. You have to give the true Father’s introduction. You can explain that God alone is the Liberator and the Guide, the One who takes everyone back home. It is Shiva’s task to take everyone back home like a swarm of mosquitoes. The word ‘Supreme  is also very good. Therefore, you have to explain that the praise of Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, is separate from the praise of Krishna. You have to prove this and explain the difference between the two. Shiva does not come into the cycle of birth and rebirth. He is the Purifier whereas Krishna takes the full 84 births. Now, who can be called the Supreme Soul? You should also write this: By not knowing the unlimited Father, you have become unhappy orphans. In the golden age, when you belong to the Lord and Master, you will definitely be happy. The words should be very clear. The Father says: Remember Me and claim your inheritance of liberation-in-life in a second. Even now, Shiv Baba is saying this. His full praise should be written: Salutations to Shiva; it is from Him that you receive your inheritance of heaven. By understanding the world cycle you will become residents of heaven. Now judge what is right . You children should go to the sannyasis’ ashrams and meet them personally because when they are in a gathering they have a lot of arrogance. It should remain in the intellects of you children how you can show people the true path. God speaks: I even uplift those sages and holy men. There is also the word ‘Liberator . The unlimited Father says: Belong to Me. “Father shows son!” Then son shows Father. Shri Krishna cannot be called the Father. All can be the children of God , the Father ; they cannot all be the children of one human being. Therefore, you children should have great intoxication while explaining to others that we are the children of the unlimited Father. Just look at the behaviour of a king’s son, a prince! It is very royal. However, the people of Bharat have defamed this poor person (Shri Krishna). They say: You too are residents of Bharat. Say to them: Yes, we are, but we are at the confluence age. We have become the children of God and we are studying with Him. God speaks: I teach you Raja Yoga. Krishna cannot possibly say this. They will come to understand this later. King Janak also understood everything from a signal. He remembered the Supreme Father, the Supreme Soul, and went into trance. Many continue to go into trance. In trance they see the incorporeal world and Paradise. You understand that you are residents of the incorporeal world. You come down from the supreme abode to play your parts. Destruction is standing ahead. Scientist s continue to beat their heads to go to the moon. It is through their extreme arrogance of science that they will bring about their own destruction. In fact, there is nothing on the moon. These things are very good, but you have to explain them in a clever manner. It is the Father, the Highest on High, who gives us these teachings. He is also your Father. His praise is separate from Krishna’s praise. This is the imperishable sacrificial fire of knowledge of Rudra in which everything is to be sacrificed. These points are very good, but it will still take time. This point is also very good: One is the spiritual pilgrimage and the other is a physical pilgrimage. The Father says: Remember Me, and your final thoughts will lead you to your destination. No one, except the spiritual Father , can teach you these things. You should write such points: Manmanabhav! Madhyajibhav! This pilgrimage is for liberation and liberation-in-life. Only the Father can take you on this pilgrimage. Krishna cannot do this. You have to instil the habit of remembrance. The more remembrance you have, the greater your happiness will be. However, Maya does not allow you to stay in remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. All of you do service. However, there is elevated service and there is low service. It is very easy to give someone the Father’s introduction. Achcha. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class

In order to be refreshed, people go to the mountains for fresh air. While at home or at the office, they remember their duties. By going outside, they become free from thoughts of their office. Children also come here in order to be refreshed. You have become tired from doing devotion for half a cycle. You receive knowledge at this auspicious confluence age. You become refreshed by knowledge and yoga. You understand that the old world is now to be destroyed and that the new world is being established. There is no annihilation. Those people think that the world will be totally destroyed, but that is not so; it simply changes. This is hell, the old world. You understand what the old world is and what the new world is. This has been explained to you in detail. All the details are in your intellects, but that also is numberwise, according to your efforts. You need a great deal of refine ment in order to explain. Explain to others in such a way that it sits in their intellects instantly. Some children are weak and so they break down while moving along. There are the versions of God: They become amazed, they listen to knowledge and tell others about this knowledge.… Here, there is a battle with Maya. They die to Maya and belong to God. Then, they die to God and belong to Maya. They are adopted and then they divorce Him. Maya is very powerful. She brings storms to many. You children also understand that there is victory and defeat. This play is one of victory and defeat. We have been defeated by the five vices. You are now making effort to gain victory over them. Ultimately, victory will be yours. Since you belong to the Father, you have to become firm. You can see how much temptation Maya gives you. Even when some go into trance, the game often finishes. It is now in the intellects of you children that you have now completed the cycle of 84 births. You became deities, warriors, merchants, shudras and you have now become Brahmins from shudras. You become Brahmins and then deities. You should not forget this. If you forget this, you step backwards and your intellects become engaged in worldly matters. You are then not even able to remember the murli etc. You experience the pilgrimage of remembrance to be difficult. This is a wonder! Some children are even too embarrassed to wear a badge. This too is body consciousness, is it not? You have to take insults. Krishna received so many insults. It is Shiv Baba who receives the most insults and then Krishna. Then it is Rama who receives the most insults. It is numberwise. Bharat has been defamed a great deal through these insults. You children should not be afraid of that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good night.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect have unlimited renunciation and remain constantly on this spiritual pilgrimage. Instil the habit of staying in remembrance.
  2. Father shows son . ” “Son shows Father.” Give everyone the true introduction of the Father. Show everyone the path to attain liberation-in-life in a second.
Blessing: May you be a hero actor who becomes a flying bird instead of dangling from the branch of elevated actions.
The elevated actions performed at the confluence age are a diamond branch. No matter what the elevated actions of the confluence age are, to become trapped by the bondage of elevated actions, that is, to have limited desires is also a golden chain. You mustn’t have this golden chain or dangle from the diamond branch because a bondage is a bondage. Therefore, BapDada is reminding all the flying birds to go beyond all bondages, which are, all limitations and to become hero actors.
Slogan: Your face is the mirror of your internal stage, and so never let your face appear dry, but one of happiness.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari

Whose duty is it to go from the iron-aged tasteless world to the essence -filled golden-aged world?

Why is this iron-aged world called a tasteless world? Because there is no essence in this world, that is, there is no strength left in anything; there is no happiness, peace or purity. At one time, there was happiness, peace and purity in this world. There isn’t that strength anymore because the five vices exist in this world. Therefore, there is an ocean of fear in this world, that is, it is called an ocean of karmic bondages and this is why people are unhappy and call out to God: God, take us across this ocean. This proves that there must definitely be a world where there was no fear, that is, a fearless world where they want to go to. This is why this world is called the ocean of sin. They wish to go across it to the world of charitable souls. There are two worlds. One is the golden-aged essence-filled world and the other is the iron-aged, tasteless world. Both worlds exist on this earth. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 November 2018

To Read Murli 8 November 2018 :- Click Here
09-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सेकेण्ड में मुक्ति और जीवनमुक्ति प्राप्त करने के लिए मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप को यथार्थ पहचान कर याद करो और सबको बाप का परिचय दो”
प्रश्नः- किस नशे के आधार पर ही तुम बाप का शो कर सकते हो?
उत्तर:- नशा हो कि हम अभी भगवान् के बच्चे बने हैं, वह हमें पढ़ा रहे हैं। हमें ही सब मनुष्य मात्र को सच्चा रास्ता बताना है। हम अभी संगमयुग पर हैं। हमें अपनी रॉयल चलन से बाप का नाम बाला करना है। बाप और श्रीकृष्ण की महिमा सबको सुनानी है।
गीत:- आने वाले कल की तुम तकदीर हो….. 

ओम् शान्ति। यह गीत तो गाये हुए हैं स्वतंत्रता सेनानियों के, बाकी दुनिया की तकदीर किसको कहा जाता है, यह भारतवासी नहीं जानते हैं। सारी दुनिया का प्रश्न है, सारी दुनिया की तकदीर बदल हेल से हेविन बनाने वाला कोई मनुष्य हो नहीं सकता। यह महिमा किसी मनुष्य की नहीं है। अगर कृष्ण के लिए कहें तो उनको गाली कोई दे न सके। मनुष्य यह भी नहीं समझते कि कृष्ण ने चौथ का चन्द्रमा कैसे देखा जो कलंक लगा। कलंक वास्तव में न कृष्ण को लगते हैं, न गीता के भगवान् को लगते हैं। कलंक लगते हैं ब्रह्मा को। कृष्ण को कलंक लगाये भी हैं तो भगाने के। शिवबाबा का तो किसको भी पता नहीं है। ईश्वर के पिछाड़ी भागे हैं जरूर, परन्तु ईश्वर तो गाली खा न सके। न ईश्वर को, न कृष्ण को गाली दे सकते। दोनों की महिमा जबरदस्त है। कृष्ण की भी महिमा नम्बरवन है। लक्ष्मी-नारायण की इतनी महिमा नहीं है क्योंकि वह शादीशुदा है। कृष्ण तो कुमार है इसलिए उसकी महिमा ज्यादा है, भल लक्ष्मी-नारायण की महिमा भी ऐसे ही गायेंगे – 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी…….. कृष्ण को तो द्वापर में कहते हैं। समझते हैं यह महिमा परम्परा से चली आई है। इन सब बातों को भी तुम बच्चे जानते हो। यह तो ईश्वरीय नॉलेज है, ईश्वर ने ही राम राज्य स्थापन किया है। राम राज्य को मनुष्य समझते नहीं हैं। बाप ही आकर इन सबकी समझ देते हैं। सारा मदार है गीता पर, गीता में ही रांग लिख दिया है। कौरव और पाण्डवों की लड़ाई तो लगी ही नहीं तो अर्जुन की बात ही नहीं। यह तो बाप बैठ पाठशाला में पढ़ाते हैं। पाठशाला युद्ध के मैदान में थोड़ेही होगी। हाँ, यह माया रावण से युद्ध है। उन पर जीत पानी है। माया जीते जगतजीत बनना है। परन्तु इन बातों को जरा भी समझ नहीं सकते। ड्रामा में नूंध ही ऐसी है। उन्हों को पिछाड़ी में आकर समझना है। और तुम बच्चे ही समझा सकते हो। भीष्म पितामह आदि को हिंसक बाण आदि मारने की बात ही नहीं है। शास्त्रों में तो बहुत ही बातें लिख दी हैं। माताओं को उनके पास जाकर टाइम लेना चाहिए। बोलो, हम आपसे इस सम्बन्ध में बात करना चाहते हैं। यह गीता तो भगवान् ने गाई है। भगवान् की महिमा है। श्रीकृष्ण तो अलग है। हमको तो इस बात में संशय आता है। रुद्र भगवानुवाच, उनका यह रुद्र ज्ञान यज्ञ है। यह निराकार परमपिता परमात्मा का ज्ञान यज्ञ है। मनुष्य फिर कहते कृष्ण भगवानुवाच। भगवान् तो वास्तव में एक को ही कहते हैं, उनकी फिर महिमा लिखनी चाहिए। कृष्ण की महिमा यह है, अब दोनों में गीता का भगवान् कौन है? गीता में लिखा हुआ है सहज राजयोग। बाप कहते हैं कि बेहद का सन्यास करो। देह सहित देह के सर्व सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो, मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप समझाते तो बहुत अच्छी राति से हैं। गीता में है श्रीमद् भगवानुवाच। श्री अर्थात् श्रेष्ठ तो परमपिता परमात्मा शिव को ही कहेंगे। कृष्ण तो दैवी गुण वाला मनुष्य है। गीता का भगवान् तो शिव है जिसने राजयोग सिखाया है। बरोबर पिछाड़ी में सब धर्म विनाश हो एक धर्म की स्थापना हुई है। सतयुग में एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। वह कृष्ण ने नहीं परन्तु भगवान् ने स्थापन किया। उनकी महिमा यह है। उनको त्वमेव माताश्च पिता कहा जाता है। कृष्ण को तो नहीं कहेंगे। तुम्हें सत्य बाप का परिचय देना है। तुम समझा सकते हो कि भगवान् ही लिबरेटर और गाइड है जो सबको ले जाते हैं, मच्छरों सदृश्य सबको ले जाना यह तो शिव का काम है। सुप्रीम अक्षर भी बड़ा अच्छा है। तो शिव परमपिता परमात्मा की महिमा अलग, कृष्ण की महिमा अलग, दोनों सिद्ध कर समझानी है। शिव तो जन्म-मरण में आने वाला नहीं है। वह पतित-पावन है। कृष्ण तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। अब परमात्मा किसको कहा जाए? यह भी लिखना चाहिए। बेहद के बाप को न जानने के कारण ही आरफन, दु:खी हुए हैं। सतयुग में जब धणके बन जाते हैं तो जरूर सुखी होंगे। ऐसे स्पष्ट अक्षर होने चाहिए। बाप कहते हैं मुझे याद करो और वर्सा लो। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति, अभी भी शिवबाबा ऐसे कहते हैं। महिमा पूरी लिखनी है। शिवाए नम:, उनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। इस सृष्टि चक्र को समझने से तुम स्वर्गवासी बन जायेंगे। अब जज करो – राइट क्या है? तुम बच्चों को सन्यासियों के आश्रम में जाकर पर्सनल मिलना चाहिए। सभा में तो उन्हों को बहुत घमण्ड रहता है।

तुम बच्चों की बुद्धि में यह भी रहना चाहिए कि मनुष्यों को सच्चा रास्ता कैसे बतायें? भगवानुवाच – मैं इन साधुओं आदि का भी उद्धार करता हूँ। लिबरेटर अक्षर भी है। बेहद का बाप ही कहते हैं मेरे बनो। फादर शोज़ सन फिर सन शोज़ फादर। श्रीकृष्ण को तो फादर नहीं कहेंगे। गॉड फादर के सब बच्चे हो सकते हैं। मनुष्य मात्र के तो सब बच्चे हो न सके। तो तुम बच्चों को समझाने का बड़ा नशा होना चाहिए। बेहद के बाप के हम बच्चे हैं, राजा के बच्चे राजकुमार की तुम चलन तो देखो कितनी रायॅल होती है। परन्तु उस बिचारे पर (श्रीकृष्ण पर) तो भारतवासियों ने कलंक लगा दिया है। कहेंगे भारतवासी तो तुम भी हो। बोलो हाँ, हम भी हैं परन्तु हम अभी संगम पर हैं। हम भगवान् के बच्चे बने हैं और उनसे पढ़ रहे हैं। भगवानुवाच – तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। कृष्ण की बात हो नहीं सकती। आगे चलकर समझते जायेंगे। राजा जनक ने भी इशारे से समझा है ना। परमपिता परमात्मा को याद किया और ध्यान में चला गया। ध्यान में तो बहुत जाते रहते हैं। ध्यान में निराकारी दुनिया और वैकुण्ठ देखेंगे। यह तो जानते हो हम निराकारी दुनिया के रहने वाले हैं। परमधाम से यहाँ आकर पार्ट बजाते हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। साइन्स वाले मून के ऊपर जाने लिए माथा मारते रहते हैं – यह है अति साइन्स के घमण्ड में जाना जिससे फिर अपना ही विनाश करते हैं। बाकी मून आदि में कुछ है नहीं। बातें तो बड़ी अच्छी हैं सिर्फ समझाने की युक्ति चाहिए। हमको शिक्षा देने वाला ऊंच ते ऊंच बाप है। वह तुम्हारा भी बाप है। उनकी महिमा अलग, कृष्ण की महिमा अलग है। रुद्र अविनाशी ज्ञान यज्ञ है, जिसमें सब आहुति पड़नी है। प्वाइन्ट्स बहुत अच्छी हैं परन्तु शायद अभी देरी है।

यह प्वाइन्ट भी अच्छी है – एक है रूहानी यात्रा, दूसरी है जिस्मानी यात्रा। बाप कहते हैं कि मुझे याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। प्रीचुअल फादर के बिना और कोई सिखला न सके। ऐसी-ऐसी प्वाइन्ट लिखनी चाहिए। मनमनाभव-मध्याजीभव, यह है मुक्ति-जीवनमुक्ति की यात्रा। यात्रा तो बाप ही करायेंगे, कृष्ण तो करा न सके। याद करने की ही आदत डालनी है। जितना याद करेंगे उतना खुशी होगी। परन्तु माया याद करने नहीं देती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। सर्विस तो सब करते हैं, परन्तु ऊंच और नीच सर्विस तो है ना। किसको बाप का परिचय देना है बहुत सहज। अच्छा – रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास

जैसे पहाड़ों पर हवा खाने, रिफ्रेश होने जाते हैं। घर वा आफिस में रहने से बुद्धि में काम रहता है। बाहर जाने से आफिस के ख्याल से फ्री हो जाते हैं। यहाँ भी बच्चे रिफ्रेश होने के लिए आते हैं। आधाकल्प भक्ति करते-करते थक गये हैं, पुरुषोत्तम संगमयुग पर ज्ञान मिलता है। ज्ञान और योग से तुम रिफ्रेश हो जाते हो। तुम जानते हो अभी पुरानी दुनिया विनाश होती है, नई दुनिया स्थापन होती है। प्रलय तो होती नहीं। वो लोग समझते हैं दुनिया एकदम खत्म हो जाती है, परन्तु नहीं। चेंज होती है। यह है ही नर्क, पुरानी दुनिया। नई दुनिया और पुरानी दुनिया क्या होती है, यह भी तुम जानते हो। तुमको डिटेल में समझाया गया है। तुम्हारी बुद्धि में विस्तार है सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। समझाने में भी बहुत रिफाइननेस चाहिए। किसी को ऐसा समझाओ जो झट बुद्धि में बैठ जाये। कई बच्चे कच्चे हैं जो चलते-चलते टूट पड़ते हैं। भगवानुवाच भी है आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती…। यहाँ है माया से युद्ध। माया से मरकर ईश्वर का बनते हैं, फिर ईश्वर से मरकर माया के बन जाते हैं। एडाप्ट हो फिर फारकती दे देते हैं। माया बड़ी प्रबल है, बहुतों को तूफान में लाती है। बच्चे भी समझते हैं – हार जीत होती है। यह खेल ही हार जीत का है। 5 विकारों से हारे हैं। अभी तुम जीतने का पुरुषार्थ करते हो। आखरीन जीत तुम्हारी है। जब बाप के बने हो तो पक्का बनना चाहिए। तुम देखते हो माया कितने टेम्पटेशन देती है! कई बार ध्यान दीदार में जाने से भी खेल खलास हो जाता है। तुम बच्चों की बुद्धि में है अब 84 जन्म का चक्र लगाकर पूरा किया है। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बने, अभी शूद्र से ब्राह्मण बने हैं। ब्राह्मण बन फिर देवता बन जाते हैं। यह भूलना नहीं है। अगर यह भी भूलते हो तो पाँव पीछे हट जाते हैं फिर दुनियावी बातों में बुद्धि लग जाती है। मुरली आदि भी याद नहीं रहती। याद की यात्रा भी डिफीकल्ट भासती है। यह भी वन्डर है।

कई बच्चों को बैज लगाने में भी लज्जा आती हैं, यह भी देह-अभिमान है ना। गाली तो खानी ही है। कृष्ण ने कितनी गाली खाई है! सबसे जास्ती गाली खाई है शिव ने। फिर कृष्ण ने। फिर सबसे जास्ती गाली खाई है राम ने। नम्बरवार है। डिफेम करने से भारत की कितनी ग्लानि हुई है! तुम बच्चों को इसमें डरना नहीं है। अच्छा – मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति यादप्यार और गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से बेहद का सन्यास कर, रूहानी यात्रा पर तत्पर रहना है। याद में रहने की आदत डालनी है।

2) फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर सभी को बाप का सत्य परिचय देना है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति का रास्ता बताना है।

वरदान:- श्रेष्ठ कर्म रूपी डाली में लटकने के बजाए उड़ती पंछी बनने वाले हीरो पार्टधारी भव
संगमयुग पर जो श्रेष्ठ कर्म करते हो – यह श्रेष्ठ कर्म हीरे की डाली है। संगमयुग का कैसा भी श्रेष्ठ कर्म हो लेकिन श्रेष्ठ कर्म के बंधन में भी फंसना अथवा हद की कामना रखना – यह सोने की जंजीर है। इस सोने की जंजीर अथवा हीरे की डाली में भी लटकना नहीं है क्योंकि बंधन तो बंधन है इसलिए बापदादा सभी उड़ते पंछियों को स्मृति दिलाते हैं कि सर्व बन्धनों अर्थात् हदों को पार कर हीरो पार्टधारी बनो।
स्लोगन:- अन्दर की स्थिति का दर्पण चेहरा है, चेहरा कभी खुश्क न हो, खुशी का हो।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य:

“कलियुगी असार संसार से सतयुगी सार वाली दुनिया में ले चलना किसका काम है”

इस कलियुगी संसार को असार संसार क्यों कहते हैं? क्योंकि इस दुनिया में कोई सार नहीं है माना कोई भी वस्तु में वो ताकत नहीं रही अर्थात् सुख शान्ति पवित्रता नहीं है, जो इस सृष्टि पर कोई समय सुख शान्ति पवित्रता थी। अब वो ताकत नहीं हैं क्योंकि इस सृष्टि में 5 भूतों की प्रवेशता है इसलिए ही इस सृष्टि को भय का सागर अथवा कर्मबन्धन का सागर कहते हैं इसलिए ही मनुष्य दु:खी हो परमात्मा को पुकार रहे हैं, परमात्मा हमको भव सागर से पार करो इससे सिद्ध है कि जरुर कोई अभय अर्थात् निर्भयता का भी संसार है जिसमें चलना चाहते हैं इसलिए इस संसार को पाप का सागर कहते हैं, जिससे पार कर पुण्य आत्मा वाली दुनिया में चलना चाहते हैं। तो दुनियायें दो हैं, एक सतयुगी सार वाली दुनिया दूसरी है कलियुगी असार की दुनिया। दोनों दुनियायें इस सृष्टि पर होती हैं। अच्छा – ओम् शान्ति।

Font Resize