daily murli 9 February

TODAY MURLI 9 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

09/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now instruments to establish the land of immortality where there won’t be any sorrow or sin. That is the viceless world.
Question: What is the wonderful plan of the Godly family?
Answer: The plan of the Godly family is to have family planning and establish the one religion of truth and to destroy all the innumerable religions. People make plans for birth control. The Father says: Their plans cannot work. Only I come to establish the new world; all other souls will then go back to their home up above. Very few souls will remain.

Om shanti. This is a home, a university and also an institution. You children, you souls, understand that He is Shiv Baba and that a soul is a saligram to whom the body belongs. The body doesn’t say, “My soul”. The soul says, “My body”. Souls are imperishable and bodies are perishable. You now consider yourselves to be souls. Our Baba is Shiva and He is the Supreme Father. You souls know that He is your Supreme Baba. He is also the Supreme Teacher and the Supreme Guru. On the path of devotion, people call out: O God, the Father! Even on the point of death, too, they say: O God! Hey Ishwar! They call out, but it doesn’t sit in anyone’s intellect accurately that the Father of all souls is One. “O Purifier” is said. Therefore, He is also the Guru. They say: Liberate us from sorrow and take us to the land of peace. Therefore, He is the Father and He is also the Purifier Satguru. Then, because He explains to us how the world cycle turns, how human beings take 84 births and because He also explains the unlimited history and geography of the world, He is the Supreme Teacher. On the path of ignorance, fathers, teachers and gurus are all separate. Here, the unlimited Father, Teacher and Guru are all one. There is so much difference! The unlimited Father gives you children the unlimited inheritance. Those fathers give limited inheritances. Those studies are also limited. No one knows the world history and geography. No one knows how Lakshmi and Narayan attained their kingdom or for how long their kingdom lasted or for how long Rama and Sita ruled in the silver age. They don’t know anything at all. You children now understand that the unlimited Father has come to teach you. Baba also shows you the path to salvation. You became impure by taking 84 births. You now have to become pure. This is the tamopradhan world. Everything goes through the stages of sato, rajo and tamo. Even the age of this world becomes old from new and then new from old. Everyone knows that there was only Bharat in the golden age and that the deities used to rule there. It used to be the kingdom of gods and goddesses. Achcha, so what happened then? They took rebirth. From being satopradhan, they became sato, rajo and then tamo; they took such-and-such number of births. Five thousand years ago in Bharat, when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, the average lifespan of a human being was 125 to 150 years. That is called the land of immortality; there is never untimely death there. This is the land of death. In the land of immortality, people remain immortal; they have long lifespans. In the golden age, it is the pure household ashram. It is called the viceless world. It is now the vicious world. You children now know that you are the children of Shiv Baba. You receive the inheritance from Shiv Baba. This one is Dada (senior brother) and that One is the Grandfather. You receive the inheritance from the Grandfather. Everyone has a right to the Grandfather’s property. Brahma is called the Father of People (Prajapita). Adam and Eve: Adam and his wife. That One is incorporeal God, the Father. This one (Prajapita) is the corporeal father. He has his own body, whereas Shiv Baba doesn’t have a body of His own. You receive your inheritance from Shiv Baba through Brahma Baba. You receive the Grandfather’s property through the father. You are once again being made into deities from human beings by Shiv Baba through Brahma Baba. They sing His praise in the Granth (Sikh scripture), “It didn’t take God long to change humans into deities.” Who made you that? God. There is a lot of praise in the Granth. Baba says: Remember Alpha and then beta, the kingdom, will be yours. Even Guru Nanak said: Chant the name of the Lord and you will receive happiness. They sing praise of that incorporeal Immortal Image of the Father. The Father says: Remember Me and you will receive happiness. Now, everyone remembers the Father. When the war is over, there will just be the one religion in the kingdom of Lakshmi and Narayan. These matters have to be understood. God speaks: Only God is called the Purifier and the Ocean of Knowledge. He alone is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Since we are children of the Father, we should definitely have happiness. Truly, the people of Bharat existed in the golden age. All the rest of the souls were in the land of peace. All the souls are now coming down here. We will then go and become deities and play our parts in heaven. This old world is the land of sorrow whereas the new world is the land of happiness. When a house becomes old, rats and snakes emerge. This world is also like that. The duration of this cycle is 5000 years. It is now the end. Gandhiji too wanted there to be a new world, a New Delhi, the kingdom of God (Rama). However, this is only the task of the Father. Only the kingdom of deities is called the kingdom of Rama. There will definitely be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the new world. First of all, Radhe and Krishna belong to separate kingdoms and then, on their marriage, they become Lakshmi and Narayan. They must definitely have performed such actions in this birth. The Father sits here and explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. Whatever actions people in the kingdom of Ravan perform, they are sinful actions. In the golden age, actions are neutral. This is also mentioned in the Gita, but they have changed the name. That is a mistake. Krishna’s birth takes place in the golden age. Shiva is the incorporeal Supreme Father. Krishna is a corporeal human being. First, there is Shiva’s birthday. Then, they celebrate Krishna’s birthday in Bharat. They speak of Shiv Ratri (Night of Shiva). The Father comes and gives Bharat the kingdom of heaven. After Shiva’s birthday there is Krishna’s birthday. Between these two, there is Rakhi, because purity is needed. There also has to be the destruction of the old world. Therefore, the war takes place and everything is destroyed, and then you come and rule in the new world. You are not studying for this old world, the land of death. Your study is for the new world, the land of immortality. There isn’t any other such college. The Father says: It is now the end of the land of death and you therefore have to study and quickly become clever. He is the Father, the Purifier and He also teaches you. This is the Godfatherly University. God speaks: Krishna is the prince of the golden age. He too receives the inheritance from Shiv Baba. At this time, all of you are claiming your future inheritance. You will receive the inheritance according to how much you study. If you don’t study, your status becomes lower. No matter where you live, you must continue to study. The murlis are sent abroad too. Baba continues to caution you every day. Children, remember the Father, because your sins will be absolved by doing this. The alloy in souls will be removed. Souls have to become 100% pure. They are now impure. People perform a lot of devotion. Hundreds of thousands of people go on pilgrimages and to gatherings. That has continued for birth after birth. They build so many temples etc. and make so much effort. In spite of that, they have continued to come down the ladder. You now understand that you will go to the land of happiness with your stage of ascent and that you will then have to come down. The degrees will then continue to decrease. The splendour of a new home definitely decreases after 10 years. You were in the new world of the golden age. Then, after 1250 years, the kingdom of Rama began. The world is now completely tamopradhan. There are so many human beings! The world has become old. Those people continue to make plans for family planning. They continue to become so confused. We write that this is the task of God, the Father, alone. Nine hundred thousand to a million people will go and live in the golden age. All the rest will go and stay in their sweet home. This is Godly familyplanning: construction of one religion and destruction of all other religions. The Father is doing His work. Those people say: You are allowed to indulge in lust, but don’t have any more children. Nothing is accomplished in that way. This planning is in the hands of only the unlimited Father. The Father says: Only I come to make the land of sorrow into the land of happiness. I come every 5000 years, between the end of the iron age and the beginning of the golden age. This is now the confluence age when the impure world becomes the pure world. It is only the task of the Father to establish the new world and destroy the old world. There was just the one religion in the golden age. Lakshmi and Narayan were the masters of the world, the empress and emperor. You also know in whose memory the rosary is created. At the top, there is the Flower (tassel), Shiv Baba, and then there is the dual-bead, Brahma and Saraswati. This is their rosary; it is of those who change the world from hell to heaven, pure from impure. Those who have departed after doing service are remembered. The Father explains: They were pure in the golden age; it was the pure family path. They are now impure. It is sung: O Purifier, come! Come and purify us! You will not call out in this way in the golden age. No one remembers the Father when they are happy. Everyone remembers Him at times of sorrow. The Father is the Liberator, the Merciful and Blissful One. He comes and gives everyone liberation and liberation-in-life. People call out to Him: Come and take us to our sweet home. There is no happiness now. It is now government of the people by the people. In the golden age, there are the king, queen and subjects. The Father tells you how you become the masters of the world. There, you have plenty of wealth, infinite wealth. The buildings there are built of gold bricks. Bricks of gold emerge from machines. Then they even set diamonds and jewels into those bricks. Even in the copper age, there were so many diamonds! They were then looted. Now, no gold is visible anywhere. This too is fixed in the drama. The Father says: I come every 5000 years. Atomic bombs etc. have been created for the destruction of the old world. That is science. They use their intellects to invent such things with which they will destroy their own clan. They aren’t manufacturing those things simply to store them; rehearsals continue to take place. The war cannot start until the kingdom is established. Preparations are being made; natural calamities are also included in all of that. There won’t be so many people. You children now have to forget this old world. Simply remember your sweet home and the sovereignty of heaven. When a new home is being built, one’s intellect only remembers the new home. The new world is now being established. The Father is the Bestower of Salvation for All. All souls will return home and their bodies will be destroyed here. Souls become pure by having remembrance of the Father. You must definitely become pure. Deities are pure. Cigarettes and tobacco etc. are never placed in front of the deity idols; they are Vaishnavs. That is called the land of Vishnu. That is the viceless world, whereas this is the vicious world. You now have to go to the viceless world. There is very little time left. You can understand for yourselves that everything will be destroyed with atomic bombs. War will definitely take place. They say that someone is inspiring them to make all of those things and this is why they continue to make them. Even though they know that their own clan will be destroyed by them, they cannot stop manufacturing them. Destruction through Shankar is also fixed in the drama. Destruction is just ahead. The flames of destruction emerge through the sacrificial fire of knowledge. You are now studying in order to become the masters of heaven. This old world is to be destroyed and become new again. This cycle continues to turn. History must repeat. First, there is the original eternal deity religion, then the moon-dynasty warrior religion. After that, those of Islam, the Buddhists etc. come and then the first number definitely comes again and everything else is destroyed. Who is teaching you children? Incorporeal Shiv Baba; He is the Teacher and the Satguru. He starts teaching you as soon as He comes and this is why it is written: The birthday of Shiva is also the birthday of the Gita. The birthday of the Gita is also the birthday of Shri Krishna. Shiv Baba is establishing the golden age. The land of Krishna is called the golden age. It is not a sage, saint or human being teaching you. The unlimited Father, who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, is teaching you. He gives you the inheritance for 21 births. Destruction has to take place. It is of this time that it is said: Some people’s wealth remained buried, some people’s wealth was looted by the Government…. There will be a lot of stealing etc. There will also be fire. Everything will be sacrificed into this sacrificial fire. When a small fire starts somewhere now, it is soon extinguished. It will still take some time. Everyone will fight each other. There won’t be anyone left to stop them fighting. After the rivers of blood, rivers of milk will flow. That is called bloodshed without cause. Children have had visions, but you will also see all of it with your physical eyes at that time. Before destruction takes place, remember the Father and you souls will become satopradhan from tamopradhan. The Father is preparing you for the establishment of the new world. When the kingdom is fully established, destruction will take place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make yourself worthy of going to the land of Vishnu. Become completely pure. Renounce impure food and drink. Use everything you have in a worthwhile way before destruction takes place.
  2. Study and quickly become clever. Pay attention to not performing any sinful actions.
Blessing: May you be a true server who achieves success in service with renunciation and tapasya.
The main way to have success in service is to have renunciation and to do tapasya. Renunciation means to renounce even with the thoughts in your mind. To renounce something because of a situation, because of a code of conduct or because of compulsion is not renunciation but it is to be a renunciate even of your thoughts while being an embodiment of knowledge. To be a tapaswi means to be constantly merged in the Father’s love, to be merged in the Ocean of Knowledge, Love, Bliss, Happiness and Peace. Only such renunciates and tapaswis achieve success in service and are true servers.
Slogan: To spread vibrations of peace with your tapasya is to be a world server.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

09-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी अमरलोक स्थापन करने के निमित्त हो, जहाँ कोई भी दु:ख वा पाप नहीं होगा, वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड”
प्रश्नः- गॉडली फैमिली का वन्डरफुल प्लैन कौन सा है?
उत्तर:- गॉडली फैमिली का प्लैन है – “फैमिली प्लैनिंग करना”। एक सत धर्म स्थापन कर अनेक धर्मों का विनाश करना। मनुष्य बर्थ कन्ट्रोल करने के प्लैन्स बनाते, बाप कहते उनके प्लैन्स चल न सकें। मैं ही नई दुनिया की स्थापना करता हूँ तो बाकी सब आत्मायें ऊपर घर में चली जाती हैं। बहुत थोड़ी आत्मायें ही रहती हैं।

ओम् शान्ति। यह घर भी है, युनिवर्सिटी भी है और इन्स्टीट्युशन भी है। तुम बच्चों की आत्मा जानती है कि वह है शिवबाबा। आत्मायें हैं सालिग्राम। जिनका यह शरीर है, शरीर नहीं कहेगा हमारी आत्मा। आत्मा कहती है हमारा शरीर। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। अभी तुम अपने को आत्मा समझते हो। हमारा बाबा शिव है, वह है सुप्रीम फादर। आत्मा जानती है वह हमारा सुप्रीम बाबा भी है। सुप्रीम टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है। भक्तिमार्ग में भी बुलाते हैं – ओ गॉड फादर। मरने समय भी कहते हैं – हे भगवान, हे ईश्वर। पुकारते हैं ना। परन्तु किसकी बुद्धि में यथार्थ रीति बैठता नहीं है। फादर तो सब आत्माओं का एक हो गया, फिर कहा जाता है – हे पतित-पावन। तो गुरू भी हो गया। कहते हैं दु:ख से हमको लिबरेट कर शान्तिधाम में ले जाओ। तो बाप भी हुआ फिर पतित-पावन सतगुरू भी हुआ, फिर सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, मनुष्य 84 जन्म कैसे लेते हैं, वह बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुनाते हैं इसलिए सुप्रीम टीचर भी हुआ। अज्ञानकाल में बाप अलग, टीचर अलग, गुरू अलग होते हैं। यह बेहद का बाप, टीचर, गुरू एक ही है। कितना फ़र्क हो गया। बेहद का बाप बेहद का वर्सा देते हैं बच्चों को। वह भी हद का वर्सा देते हैं। पढ़ाई भी हद की है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तो कोई जानते नहीं। यह किसको पता नहीं है – लक्ष्मी-नारायण ने राज्य कैसे पाया? कितना समय वह राज्य चला? फिर त्रेता के राम-सीता ने कितना समय राज्य किया? कुछ नहीं जानते। अभी तुम बच्चे समझते हो बेहद का बाप आये हैं हमको पढ़ाने। फिर बाबा सद्गति का रास्ता बताते हैं। तुम 84 जन्म लेते-लेते पतित बनते हो। अब पावन बनना है। यह है तमोप्रधान दुनिया। सतो, रजो, तमो में हर चीज़ आती है। यह जो सृष्टि है, उनकी भी आयु है नई सो पुरानी, पुरानी सो फिर नई होती है। यह तो सब जानते हैं। सतयुग में भारत ही था, उनमें देवी-देवताओं का राज्य था। गॉड गॉडेज का राज्य था। अच्छा फिर क्या हुआ? उन्होंने पुनर्जन्म लिया। सतोप्रधान से सतो, सतो से रजो तमो में आये। इतने-इतने जन्म लिए। भारत में 5 हज़ार वर्ष पहले जब लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो वहाँ मनुष्यों की आयु एवरेज 125-150 वर्ष होती है। उसको अमरलोक कहा जाता है। अकाले मृत्यु कभी होता नहीं। यह है मृत्युलोक। अमरलोक में मनुष्य अमर रहते हैं, आयु बड़ी रहती है। सतयुग में पवित्र गृहस्थ आश्रम था। वाइसलेस वर्ल्ड कहा जाता है। अभी है विशश वर्ल्ड। अभी तुम बच्चे जानते हो हम शिवबाबा की सन्तान हैं। वर्सा शिवबाबा से मिलता है। यह दादा, वह डाडा (ग्रैन्ड-फादर) वर्सा डाडे का मिलता है। डाडे की प्रापर्टी पर सबका हक रहता है। ब्रह्मा को कहा जाता है प्रजापिता। एडम और ईव, आदम बीबी। वह है निराकार गॉड फादर। यह (प्रजापिता) हो गया साकारी फादर। इनको अपना शरीर है। शिवबाबा को अपना शरीर नहीं है। तो तुमको वर्सा मिलता है शिवबाबा से ब्रह्मा द्वारा। डाडे की मिलकियत मिलेगी तो बाप द्वारा ना। शिवबाबा से भी ब्रह्मा द्वारा तुम फिर मनुष्य से देवता बन रहे हो। मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार….. किसने बनाया? भगवान ने। महिमा करते हैं ना ग्रंथ में। महिमा बहुत है। जैसे बाबा कहते हैं अल्फ को याद करो तो बे बादशाही तुम्हारी। गुरूनानक भी कहते जप साहेब को तो सुख मिले। उस निराकार अकालमूर्त बाप की ही महिमा गाते हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो सुख मिले। अभी बाप को ही याद करते हैं। लड़ाई पूरी होगी फिर लक्ष्मी-नारायण के राज्य में एक ही धर्म होगा। यह समझने की बातें हैं। भगवानुवाच – पतित-पावन ज्ञान का सागर भगवान को कहा जाता है। वही दु:ख हर्ता सुख कर्ता है। जब हम बाप के बच्चे हैं तो जरूर हम सुख में होने चाहिए। बरोबर भारतवासी सतयुग में थे। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी। अभी तो सब आत्मायें यहाँ आ रही हैं। फिर हम जाकर देवी-देवता बनेंगे। स्वर्ग में पार्ट बजाते हैं। यह पुरानी दुनिया है दु:खधाम, नई दुनिया है सुखधाम। पुराना घर होता है तो फिर उनमें चूहे सर्प आदि निकलते हैं। यह दुनिया भी ऐसी है। इस कल्प की आयु 5 हज़ार वर्ष है। अभी है अन्त। गांधी जी भी चाहते थे नई दुनिया नई देहली हो, रामराज्य हो। परन्तु यह तो बाप का ही काम है। देवताओं के राज्य को ही रामराज्य कहते हैं। नई दुनिया में तो जरूर लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा। पहले तो राधे-कृष्ण दोनों अलग-अलग राजधानी के हैं फिर उन्हों की सगाई हुई तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। जरूर इस समय ऐसे कर्म करते होंगे। बाप तुमको कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बैठ समझाते हैं। रावण राज्य में मनुष्य जो कर्म करेंगे वह कर्म विकर्म बन जाते हैं। सतयुग में कर्म अकर्म होते हैं। गीता में भी है परन्तु नाम बदल लिया है। यह है भूल। कृष्ण जयन्ती तो होती है सतयुग में। शिव है निराकार परमपिता। कृष्ण तो साकार मनुष्य है। पहले शिवजयन्ती होती है फिर कृष्ण जयन्ती भारत में ही मनाते हैं। शिवरात्रि कहते हैं। बाप आकर भारत को स्वर्ग का राज्य देते हैं। शिवजयन्ती के बाद है कृष्ण जयन्ती। उनके बीच में होती है राखी क्योंकि पवित्रता चाहिए। पुरानी दुनिया का विनाश भी चाहिए। फिर लड़ाई लगती है तो सब खत्म हो जाते हैं फिर तुम आकर नई दुनिया में राज्य करेंगे। तुम इस पुरानी दुनिया, मृत्युलोक के लिए नहीं पढ़ते हो। तुम्हारी पढ़ाई है नई दुनिया अमरलोक के लिए। ऐसा तो कोई कॉलेज नहीं होगा। अब बाप कहते हैं इस मृत्युलोक का अन्त है इसलिए जल्दी पढ़कर होशियार होना है। वह बाप भी है, पतित-पावन भी है, पढ़ाते भी हैं। तो यह गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। भगवानुवाच है ना। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है। वह भी शिवबाबा से वर्सा लेते हैं। इस समय सब भविष्य के लिए वर्सा ले रहे हैं फिर जितना पढ़ेंगे उतना वर्सा मिलेगा। नहीं पढ़ेंगे तो पद कम हो जायेगा। कहाँ भी रहो, पढ़ते रहो। मुरली तो विलायत में भी जा सकती है। बाबा रोज़ सावधानी भी देते रहते हैं। बच्चे बाप को याद करो इससे तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। आत्मा में जो खाद पड़ी है वह निकल जायेगी। आत्मा 100 परसेन्ट प्योर बननी है। अभी तो इमप्योर है। भक्ति तो मनुष्य बहुत करते हैं, तीर्थों पर, मेलों पर लाखों मनुष्य जाते हैं। यह तो जन्म-जन्मान्तर से चला आता है। कितने मन्दिर आदि बनाते, मेहनत करते हैं। फिर भी सीढ़ी उतरते आते हैं। अभी तुम जानते हो – हम चढ़ती कला से सुखधाम में जायेंगे, फिर हमको उतरना है। फिर कला कमती होती जाती है। नये मकान का 10 वर्ष के बाद भभका जरूर कम हो जायेगा। तुम नई दुनिया सतयुग में थे। 1250 वर्ष के बाद रामराज्य शुरू हो गया, अभी तो बिल्कुल ही तमोप्रधान हैं। मनुष्य कितने हो गये हैं। दुनिया पुरानी हो गई है। वे लोग तो फैमिली प्लैनिंग के प्लैन बनाते रहते हैं। कितना मूँझते रहते हैं। हम लिखते हैं यह तो गॉड फादर का ही काम है। सतयुग में 9-10 लाख मनुष्य जाकर रहेंगे। बाकी सब अपने घर स्वीटहोम में चले जायेंगे। यह गॉडली फैमिली प्लैनिंग है। एक धर्म की स्थापना, बाकी सब धर्मों का विनाश। यह तो बाप अपना काम कर रहे हैं। वह कहते हैं विकार में भल जाओ परन्तु बच्चा न हो। ऐसे करते-करते होगा कुछ भी नहीं। यह प्लैनिंग तो बेहद बाप के हाथ में हैं। बाप कहते हैं मैं ही दु:खधाम से सुखधाम बनाने आया हूँ। हर 5 हज़ार वर्ष बाद मैं आता हूँ। कलियुग के अन्त और सतयुग के आदि में। अभी यह है संगम जबकि पतित दुनिया से पावन दुनिया बनती है। पुरानी दुनिया का विनाश और नई दुनिया की स्थापना यह तो बाप का ही काम है। सतयुग में था ही एक धर्म। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक, महाराजा-महारानी थे। यह भी तुम जानते हो, यह माला किसकी बनी हुई है। ऊपर में है फूल शिवबाबा फिर है युगल दाना ब्रह्मा-सरस्वती। उन्हों की यह माला है जो विश्व को नर्क से स्वर्ग, पतित से पावन बनाते हैं। जो सर्विस करके जाते हैं, उन्हों की ही याद रहती है। तो बाप समझाते हैं – यह सतयुग में पवित्र थे ना। प्रवृत्ति मार्ग पवित्र था। अभी तो पतित हैं। गाते भी हैं पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। सतयुग में थोड़ेही ऐसे पुकारेंगे। सुख में कोई भी बाप का सिमरण नहीं करते हैं। दु:ख में सब सिमरण करते हैं। बाप है ही लिबरेटर, रहम-दिल, ब्लिसफुल, आकर सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। बुलाते भी उनको हैं, आकर स्वीट होम में ले चलो। अभी सुख है नहीं। यह है प्रजा का प्रजा पर राज्य। सतयुग में तो राजा, रानी, प्रजा होते हैं। बाप बताते हैं – तुम कैसे विश्व के मालिक बनते हो। वहाँ तुम्हारे पास अथाह, अनगिनत धन रहता है। सोने की ईटों के मकान बनते हैं। मशीन से सोने की ईटें निकलती रहती हैं। फिर उसमें भी हीरे-जवाहरों की जड़ित करते हैं। द्वापर में भी कितने हीरे थे, जो लूटकर ले गये। अभी तो कुछ सोना दिखाई ही नहीं पड़ता है। यह भी ड्रामा में नूँध है। बाप कहते हैं मैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद आता हूँ। पुरानी दुनिया के विनाश के लिए यह एटॉमिक बॉम्ब्स आदि बने हैं। यह है साइन्स। बुद्वि से ऐसी-ऐसी चीजें निकाली हैं, जिससे अपने ही कुल का विनाश करेंगे। यह कोई रखने के लिए थोड़ेही बनाते हैं। यह रिहर्सल होती रहेगी। जब तक राजधानी स्थापन नहीं हुई है तब तक लड़ाई नहीं लग सकती। तैयारियां तो हो रही हैं, उसके साथ नेचुरल कैलेमिटीज भी होगी। इतने आदमी होंगे नहीं।

अब बच्चों को इस पुरानी दुनिया को भूल जाना है। बाकी स्वीट होम स्वर्ग की बादशाही को याद करना है। जैसे नया घर बनाते हैं तो फिर बुद्धि में नया घर ही याद रहता है ना। अब भी नई दुनिया की स्थापना हो रही है। बाप है सर्व का सद्गति दाता। आत्मायें सब चली जायेंगी। बाकी शरीर यहाँ खत्म हो जायेंगे। आत्मा पवित्र बनेगी, बाप की याद से। पवित्र जरूर बनना है। देवतायें पवित्र हैं ना। उन्हों के आगे कब बीड़ी तम्बाकू आदि नहीं रखी जाती है, वह वैष्णव हैं। विष्णुपुरी कहा जाता है। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड। यह है विशश वर्ल्ड। अब वाइसलेस वर्ल्ड में जाना है। समय बाकी थोड़ा है। यह तो खुद भी समझते हैं – एटामिक बॉम्ब्स से सब खत्म हो जायेंगे। लड़ाई तो लगनी ही है। बोलते हैं हमको कोई प्रेरणा करने वाला है, जो हम बना रहे हैं। जानते भी हैं अपने कुल का विनाश हो रहा है। परन्तु बनाने बिगर रह नहीं सकते। शंकर द्वारा विनाश, यह भी ड्रामा में नूँध है। विनाश सामने खड़ा है। ज्ञान यज्ञ से यह विनाश ज्वाला प्रज्ज्वलित हुई है। अभी तुम स्वर्ग का मालिक बनने लिए पढ़ रहे हो। यह पुरानी दुनिया खत्म हो नई बन जायेगी। यह चक्र फिरता रहता है। हिस्ट्री मस्ट रिपीट। पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म था फिर चन्द्रवंशी क्षत्रिय धर्म फिर उसके बाद इस्लामी बौद्धी आदि आये फिर जरूर पहले नम्बर वाला आयेगा और सब विनाश हो जायेंगे। तुम बच्चों को कौन पढ़ा रहे हैं? वह निराकार शिवबाबा। वही शिक्षक है, सतगुरू है। आने से ही पढ़ाई शुरू करते हैं, इसलिए लिखा हुआ है शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती। गीता जयन्ती सो श्रीकृष्ण जयन्ती। शिवबाबा सतयुग की स्थापना करते हैं। कृष्णपुरी सतयुग को कहा जाता है। अभी तुमको पढ़ाने वाला कोई साधू, सन्त, मनुष्य नहीं है। यह तो दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, बेहद का बाप है। 21 जन्मों के लिए तुमको वर्सा देते हैं। विनाश तो होना ही है, इस समय के लिए ही कहा जाता है – किनकी दबी रही धूल में, किनकी राजा खाए….. चोराकारी भी बहुत होगी। आग भी लगनी है। इस यज्ञ में सब स्वाहा हो जायेंगे। अभी थोड़ी-थोड़ी आग लगेगी फिर बन्द हो जायेगी। थोड़ी अजुन देरी है। सब आपस में लड़ेंगे। छुड़ाने वाला कोई रहेगा नहीं। रक्त की नदियों के बाद फिर दूध की नदियां बहेंगी। इसको कहा जाता है खूने नाहेक खेल। बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है फिर इन आंखों से भी देखेंगे। विनाश के पहले बाप को याद करना है तो तमोप्रधान से आत्मा सतोप्रधान बन जाए। बाप नई दुनिया स्थापन करने के लिए तुमको तैयार कर रहे हैं। राजधानी पूरी स्थापन हो जायेगी फिर विनाश होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विष्णुपुरी में चलने के लिए स्वयं को लायक बनाना है। सम्पूर्ण पावन बनना है, अशुद्ध खान-पान त्याग कर देना है। विनाश के पहले अपना सब कुछ सफल करना है।

2) जल्दी-जल्दी पढ़कर होशियार होना है। कोई भी विकर्म न हो इसका ध्यान रखना है।

वरदान:- त्याग और तपस्या द्वारा सेवा में सफलता प्राप्त करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
सेवा में सफलता का मुख्य साधन है त्याग और तपस्या। त्याग अर्थात् मन्सा संकल्प से भी त्याग, किसी परिस्थिति के कारण, मर्यादा के कारण, मजबूरी से त्याग करना यह त्याग नहीं है लेकिन ज्ञान स्वरूप से, संकल्प से भी त्यागी बनो और तपस्वी अर्थात् सदा बाप की लगन में लवलीन, ज्ञान, प्रेम, आनंद, सुख, शान्ति के सागर में समाये हुए। ऐसे त्यागी, तपस्वी ही सेवा में सफलता प्राप्त करने वाले सच्चे सेवाधारी हैं।
स्लोगन:- अपनी तपस्या द्वारा शान्ति के वायब्रेशन फैलाना ही विश्व सेवाधारी बनना है।

TODAY MURLI 9 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 February 2020

09/02/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/11/85

The lovely, unique and elevated world of the confluence-aged Brahmins.

Today, the Father, the Creator of Brahmins is looking at His small, beautiful and alokik world. This Brahmin world is extremely lovely and unique when compared to even the golden-aged world. The Brahmin souls of this alokik world are so elevated and special. This Brahmin form is even more special than the deity form. The praise of this world is its uniqueness. Every soul of this world is special. Each soul is a self-sovereign king. Every soul has a tilak of awareness, an imperishable tilak, a tilak of self-sovereignty and is seated on God’s heart throne. So all you souls have a crown, throne and tilak of this beautiful world. Have you ever seen or heard of such a world throughout the whole cycle? It is a world in which every Brahmin soul has the same Father, belongs to the same family, has the same language and knowledge, that is, you have the same elevated aim in life, the same attitude, the same vision, the same religion and the same Godly karma. It is a world that is as lovely as it is small, so it is just as lovely. In this way, all of you Brahmin souls sing this song in your minds: Our small world is unique and very lovely. Do you sing this song? Do you become happy seeing this confluence-aged world? It is such a unique world. The daily timetable of this world is also unique. You have your own kingdom, your own disciplines, your own customs and systems, but they are beautiful systems and the love is also beautiful. You are the Brahmin souls who live in such a world, are you not? You live in this world, do you not? You never leave your world and go back to the old world, do you? This is why people of the old world are not able to understand at all who these Brahmins are. They say: Everything of the Brahma Kumaris is their own. They have their own knowledge. Since your world is new, then everything would be new and unique, would it not? All of you, look at your own self: do you have new thoughts, a new language and new karma for the new world? Have you become unique to this extent? Nothing of the old still remains, does it? If there is even the slightest trace of the old things, that would attract you to the old world and, from being in the elevated world, you would go to the world that is lower down. Because of it being high, that is, elevated, they show heaven to be up above and hell to be down below. The confluence-aged heaven is even higher than the golden-aged heaven because you have now become knowledgefull of both worlds. Here, whilst seeing and knowing everything, you are detached and loving. This is why Madhuban is experienced to be heaven. You tell people: If you want to see heaven, see it now. There, you will not speak of heaven. Now, you say with that sparkle of intoxication: We have seen heaven! You challenge people: If you want to see heaven, come to us and see it. You speak of it like this, do you not? At first, you used to think and hear that the angels of heaven are very beautiful, but no one saw them. “There is this and this in heaven.” You heard a lot about it, but you yourselves have now reached the world of heaven. You yourselves have become the angels of heaven. You have become beautiful from ugly. You have now attained wings, have you not? You have received such unique wings of knowledge and yoga that you can tour around all three worlds with them. Even scientists don’t have any means of reaching such a fast speed. Have all of you received wings? No one has been left out, has he? The praise of this world is that there is nothing lacking in the world of Brahmins. This is why there is the praise: Having found the one Father, we have found everything. Not just of the one world, you have become the masters of all three worlds. The memorial of this world is that everyone constantly continues to swing in swings. To swing in swings is considered to be a sign of fortune. What is the speciality of this world? Sometimes you swing in the swing of supersensuous happiness, sometimes you swing in the swing of peace, sometimes in the swing of knowledge. You swing in the swing of God’s lap. To be in God’s lap means to swing in the stage of being absorbed in love. Just as you become totally merged in a lap, in the same way, you become merged in God’s lap; you become lost in love. This alokik lap enables you to forget the pain and sorrow of many births in a second. So, continue to swing in all the swings.

Did you ever think, even in your dreams, that you would have a right to such a world? Today, BapDada was seeing His lovely world. Do you like this world? You do love it, do you not? You don’t sometimes place one foot in that world and one foot in this world, do you? You have seen and experienced this world for 63 births. What did you receive? Did you receive something or did you lose something? You lost your bodies, you lost peace and happiness of the mind and you also lost your wealth. You lost all relationships. Where did you lose the beautiful bodies that the Father gave you? If you accumulate money, it is black money. Where did the pure and clean money go? Even if you do have some, it is of no use. You call yourselves millionaires, but can you show it? So you lost everything, and if your intellects are still pulled, then what would be said? Would that be called sensible? Therefore, always keep this elevated world of yours in your intellect. Constantly keep the specialities of the life of this world in your awareness and become powerful. Become embodiments of remembrance and you will automatically become conquerors of attachment. Do not take anything of the old world into your intellects. To take means to be deceived. To be deceived means to take sorrow. So, where do you have to stay? In the elevated world or in the old world? Always keep the difference very clearly emerged in your awareness as to what that is and what this is. Achcha.

To the special Brahmin souls who live in such a small and lovely world, to the souls who are constantly seated on the heart throne, to the souls who are constantly swinging in swings, to the constantly detached children who are loving to God, please accept God’s remembrance and God’s love and namaste.

BapDada meeting the serviceable teachers:

Servers means renunciate and tapaswi souls. You always receive the fruit of service. However, you will constantly continue to move forward with your renunciation and tapasya. Keep the aim that you have of serving and always giving the proof of special service by considering yourselves to be special souls. The stronger your aim is, the stronger the building will be. So, always continue to move forward by considering yourselves to be servers. Just as the Father has selected you, so you then have to select your subjects. Always become free from obstacles and continue to make service free from obstacles too. Everyone does service, but your service should be free from obstacles. It is in this that you receive a number. Wherever you live, let all of you students be free from obstacles. Let there be no wave of obstacles. Let the atmosphere be powerful. This is called being a soul who is free from obstacles. Have the aim of having such an atmosphere of remembrance that no obstacles can come. When there is a fortress, enemies cannot come. So, become free from obstacles and servers who are free from obstacles.

BapDada meeting different groups:

Do service and claim contentment. You don’t just have to do service, but do such service in which there is contentment and you receive everyone’s blessings. Service filled with blessings gives you easy success. You have to do service according to the plans and do a lot of it. Do it in happiness and enthusiasm, but definitely pay attention to this: did I receive blessings in the service I did? Or, did I just work hard? Where there are blessings, you don’t feel it to be hard work. So, now keep the aim that, whoever you come into contact with, you also continue to receive blessings from that one. When you claim blessings from everyone, your non-living images will continue to give blessings for half the cycle. They come to claim blessings from the images of you, do they not? They go to claim blessings from the deity idols, do they not? So, you claim blessings from everyone at this time, and this is why you also continue to give blessing through your images. Have functionsralliesserve VIPs and IPs do everything, but do service that is filled with blessings. (What is the method to use for claiming blessings?) Let the lesson of “Ha ji” be firm. Do not say “No” to anyone and make him lose courage. For instance, even if they are wrong, don’t instantly say, “You are wrong”. First of all, give them reassurance and courage. Say “Yes” to that one, and then explain to him and he will understand. If you instantly say “No”, then the little courage he has would finish. Wrong can be wrong, but if you tell him he is wrong, he will never consider himself to be wrong. Therefore, first of all say “Yes” to him, increase his courage, and he will then be able to judge for himself. Give him regard. Simply adopt this method. Even if he is wrong, first of all, say that he is good; let him have courage first. If someone has fallen down, would you push him down even more or would you uplift him? First of all give him some support and make him get up. This is called generosity. Continue to enable those who are to become co-operative to co-operate. You are ahead and I am also ahead. Continue to move forward together. Move forward together in unity and there will be success and you will receive blessings of contentment. Become great in claiming such blessings and you will automatically become great in service.

To the servers:

Whilst doing service, do you constantly experience yourselves to be stable in a karma yogi stage? Or, is it that while you are performing karma, your remembrance is reduced and your intellects are more engrossed in the work? Because, by performing karma while staying in remembrance, you will never get tired doing that work. Those who perform karma while staying in remembrance experience constant happiness. You perform karma, that is, you do service as karma yogis, do you not? Those who have the practice of being karma yogis always make their present and their future elevated at every step. The future account will always be full and the present one is always elevated. Do you play your parts of doing service whilst being such karma yogis? You don’t forget, do you? There are servers in Madhuban and so Madhuban automatically reminds you of the Father. You have accumulated your accounts of all treasures, have you not? You have accumulated so much that you will remain constantly full. At the confluence age, your batteries are always charged. The batteries become weak from the copper age. At the confluence age, they are always full and always charged. So, you don’t come to Madhuban to fill your batteries but you come to celebrate. There is love between the Father and the children and this is why to meet one another and to listen to Him is part of the festivity of the confluence age. Achcha.

BapDada’s blessings of elevated versions for the success of the Youth Rally:

You may create the Youth Wing. Whatever you do, just be content. Let there be contentment and success, for this life is for service. If you carry out a task with zeal and enthusiasm, that is no problem. If there is a programme and you feel that you have to do that, then that is different. However, if you want to do something with your own zeal and enthusiasm, that is no problem. Wherever you go, whoever you meet, whoever sees you, there is service in that. Just speaking alone is not service: let your face also be cheerful. A spiritual face too does service. Have the aim of doing service and moving forward with zeal and enthusiasm in happiness by showing the sparkle of spiritual happiness. Let no one do service under compulsion. It isn’t that, because a programme is made, they have to do it. It is good if they do it with their own zeal and enthusiasm. It is good.

It isn’t that if some do not have the enthusiasm to do something, they are bound to do it. It does not matter. In any case, you had the aim of covering all areas before the Golden Jubilee, and so, just as those who go on a rally by foot will come in their own groups, in the same way, let there also be those who come by bus. Whilst serving every zone and every area with the buses, they can reach Delhi. Make two types of groups. One is of those who continue to come by bus and who come whilst serving on the way, and the other group is of those who come by foot. Then, it would be double. You are the Youth and you can do this, can you not? They have to use their energy somewhere! It would be good if that energy is used for service. Then both intentions would be fulfilled. Service would be fulfilled and you have called this the ‘foot rally’, and that would also be fulfilled. If all the different States arrange their interviews in advance, that sound would thenautomatically spread. However, this should definitely be visible as a spiritual pilgrimage. Don’t let just the foot rally be visible. Let there also be a sparkle of spirituality and happiness. Then newness would be visible. Let it not appear to be ordinary like the rallies other people have, but let it appear that you are double pilgrims, not just single pilgrims. You are those who are on the pilgrimage of remembrance and also those who are on a foot rally. If the impact of the double pilgrimage is visible on your faces, it would then be good.

Avyakt BapDada’s divine message for the political leaders of the world:(04/12/85)

Each and every political leader in the world is engaged in his task with the good wishes and pure feelings of making his country and the people of his country progress. However, even though their feelings are very elevated, there isn’t as much practical proof as there should be. Why is this? It is because the feelings of the mind, feelings of service and the feelings of love in the people of today – and also in many of the leaders – have changed into selfish and jealous motives. In order to finish that foundation, they have made many efforts with the power of matter, the power of science, the power of worldly knowledge and the power of the authority of government. However, real power is spiritualpower through which the feelings of the minds can easily be changed. They pay less attention to that, and this is why the seed of changed feelings cannot finish. It is suppressed for a short while but then, according to the time, it shows itself in an even more intense form. This is why the message of the spiritual Father for the spiritual children (souls) is: Constantly consider yourself to be a spirit (soul), forge a relationship with the spiritual Father, take spiritual power from Him and become a leader of your own mind. You will then be able to become a political leader and be able to transform the feelings in the minds of others. The thoughts in your mind and the practical karma of the people will become the same. With the co-operation of the two, you will be able to experience the practical proof of success. Remember that only someone who has a right to rule himself can be a soul who is constantly worthy of ruling a kingdom and that self-sovereignty is the birthright given to you by your spiritualFather. With the power of this birthright, you will also experience the power of being constantly righteous and will always be successful.

Blessing: May you be a constantly powerful soul and make your aim and its qualifications equal while in a gathering.
While seeing one another in a gathering, you can have zeal and enthusiasm, but there can also be carelessness. You would then think: This one is doing this, and so what does it matter if I also do the same? So, take help from the gathering to become elevated. Before performing any act, first of all pay special attention and have the aim of making yourself complete and becoming a sample. “I have to do it and then inspire others.” Then, let this aimemerge repeatedly. Continue to match your aim with its qualifications and you will become powerful.
Slogan: In order to go fast in the last period, do not waste your time in ordinary or wasteful thoughts.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 February 2020

09-02-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-11-85 मधुबन

संगमयुगी ब्राह्मणों का न्यारा, प्यारा श्रेष्ठ संसार

आज ब्राह्मणों के रचयिता बाप अपने छोटे से अलौकिक सुन्दर संसार को देख रहे हैं। यह ब्राह्मण संसार सतयुगी संसार से भी अति न्यारा और अति प्यारा है। इस अलौकिक संसार की ब्राह्मण आत्मायें कितनी श्रेष्ठ हैं, विशेष हैं। देवता रूप से भी यह ब्राह्मण स्वरूप विशेष है। इस संसार की महिमा है, न्यारापन है। इस संसार की हर आत्मा विशेष है। हर आत्मा ही स्वराज्यधारी राजा है। हर आत्मा स्मृति की तिलकधारी, अविनाशी तिलकधारी, स्वराज्य तिलकधारी, परमात्म दिल तख्तनशीन है। तो सभी आत्मायें इस सुन्दर संसार की ताज, तख्त और तिलकधारी हैं! ऐसा संसार सारे कल्प में कभी सुना वा देखा! जिस संसार की हर ब्राह्मण आत्मा का एक बाप, एक ही परिवार, एक ही भाषा, एक ही नॉलेज अर्थात् ज्ञान, एक ही जीवन का श्रेष्ठ लक्ष्य, एक ही वृत्ति, एक ही दृष्टि, एक ही धर्म और एक ही ईश्वरीय कर्म है। ऐसा संसार जितना छोटा उतना प्यारा है। ऐसे सभी ब्राह्मण आत्मायें मन में गीत गाती हो कि हमारा छोटा-सा यह संसार अति न्यारा, अति प्यारा है। यह गीत गाती हो? यह संगमयुगी संसार देख-देख हर्षित होते हो? कितना न्यारा संसार है! इस संसार की दिनचर्या ही न्यारी है। अपना राज्य, अपने नियम, अपनी रीति-रसम, लेकिन रीति भी न्यारी है प्रीति भी प्यारी है। ऐसे संसार में रहने वाली ब्राह्मण आत्मायें हो ना! इसी संसार में रहते हो ना? कभी अपने संसार को छोड़ पुराने संसार में तो नहीं चले जाते हो! इसलिए पुराने संसार के लोग समझ नहीं सकते कि आखिर भी यह ब्राह्मण हैं क्या! कहते हैं ना – ब्रह्माकुमारियों की चाल ही अपनी है। ज्ञान ही अपना है। जब संसार ही न्यारा है तो सब नया और न्यारा ही होगा ना। सभी अपने आप को देखो कि नये संसार के नये संकल्प, नई भाषा, नये कर्म, ऐसे न्यारे बने हो! कोई भी पुराना-पन रह तो नहीं गया है! जरा भी पुराना-पन होगा तो वह पुरानी दुनिया की तरफ आकर्षित कर देगा और ऊंचे संसार से नीचे के संसार में चले जायेंगे। ऊंचा अर्थात् श्रेष्ठ होने के कारण स्वर्ग को ऊंचा दिखाते हैं और नर्क को नीचे दिखाते हैं। संगमयुगी स्वर्ग सतयुगी स्वर्ग से भी ऊंचा है क्योंकि अभी दोनों संसार के नॉलेजफुल बने हो। यहाँ अभी देखते हुए, जानते हुए न्यारे और प्यारे हो इसलिए मधुबन को स्वर्ग अनुभव करते हो। कहते हो ना स्वर्ग देखना हो तो अभी देखो। वहाँ स्वर्ग का वर्णन नहीं करेंगे। अभी फलक से कहते हो कि हमने स्वर्ग देखा है। चैलेन्ज करते हो कि स्वर्ग देखना हो तो यहाँ आकर देखो। ऐसे वर्णन करते हैं ना। पहले सोचते थे, सुनते थे कि स्वर्ग की परियाँ बहुत सुन्दर होती हैं। लेकिन किसने देखा नहीं। स्वर्ग में यह यह होता, सुना बहुत लेकिन अब स्वयं स्वर्ग के संसार में पहुँच गये। खुद ही स्वर्ग की परियाँ बन गये। श्याम से सुन्दर बन गये ना! पंख मिल गये ना। इतने न्यारे पंख ज्ञान और योग के मिले हैं जिससे तीनों ही लोकों का चक्र लगा सकते हो। साइंस वालों के पास भी ऐसे तीव्रगति का साधन नहीं है। सभी को पंख मिले हैं? कोई रह तो नहीं गया है। इस संसार का ही गायन है – अप्राप्त नहीं कोई वस्तु ब्राह्मणों के संसार में, इसलिए गायन है एक बाप मिला तो सब कुछ मिला। एक दुनिया नहीं लेकिन तीनों लोकों का मालिक बन जाते। इस संसार का गायन है सदा सभी झूलों में झूलते रहते। झूलों में झूलना भाग्य की निशानी कहा जाता है। इस संसार की विशेषता क्या है? कभी अतीन्द्रिय सुख के झूलों में झूलते, कभी खुशी के झूले में झूलते, कभी शान्ति के झूले में, कभी ज्ञान के झूले में झूलते। परमात्म गोदी के झूले में झूलते। परमात्म गोदी है याद की लवलीन अवस्था में झूलना। जैसे गोदी में समा जाते हैं। ऐसे परमात्म याद में समा जाते, लवलीन हो जाते। यह अलौकिक गोद सेकण्ड में अनेक जन्मों के दु:ख दर्द भुला देती है। ऐसे सभी झूलों में झूलते रहते हो!

कभी स्वप्न में भी सोचा था कि ऐसे संसार के अधिकारी बन जायेंगे! बापदादा आज अपने प्यारे संसार को देख रहे हैं। यह संसार पसन्द है? प्यारा लगता है? कभी एक पाँव उस संसार में, एक पाँव इस संसार में तो नहीं रखते? 63 जन्म उस संसार को देख लिया, अनुभव कर लिया। क्या मिला? कुछ मिला वा गँवाया? तन भी गँवाया, मन का सुख-शान्ति गँवाया और धन भी गँवाया! सम्बन्ध भी गँवाया। जो बाप ने सुन्दर तन दिया, वह कहाँ गँवाया! अगर धन भी इकट्ठा करते हैं तो काला धन। स्वच्छ धन कहाँ गया? अगर है भी तो काम का नहीं है। कहने में करोड़पति हैं लेकिन दिखा सकते हैं? तो सब कुछ गँवाया फिर भी अगर बुद्धि जाए तो क्या कहेंगे! समझदार? इसलिए अपने इस श्रेष्ठ संसार को सदा स्मृति में रखो। इस संसार के इस जीवन की विशेषताओं को सदा स्मृति में रख समर्थ बनो। स्मृति स्वरूप बनो तो नष्टोमोहा स्वत: ही बन जायेंगे। पुरानी दुनिया की कोई भी चीज़ बुद्धि से स्वीकार नहीं करो। स्वीकार किया अर्थात् धोखा खाया। धोखा खाना अर्थात् दु:ख उठाना। तो कहाँ रहना है? श्रेष्ठ संसार में या पुराने संसार में? सदा अन्तर स्पष्ट इमर्ज रूप में रखो कि वह क्या और यह क्या! अच्छा!

ऐसे छोटे से प्यारे संसार में रहने वाली विशेष ब्राह्मण आत्माओं को, सदा तख्तनशीन आत्माओं को, सदा झूलों में झूलने वाली आत्माओं को, सदा न्यारे और परमात्म प्यारे बच्चों को परमात्म याद, परमात्म प्यार और नमस्ते।

सेवाधारी (टीचर्स) बहिनों से:- सेवाधारी अर्थात् त्यागी तपस्वी आत्मायें। सेवा का फल तो सदा मिलता ही है लेकिन त्याग और तपस्या से सदा ही आगे बढ़ती रहेंगी। सदा अपने को विशेष आत्मायें समझ कर विशेष सेवा का सबूत देना है। यही लक्ष्य रखो जितना लक्ष्य मजबूत होगा उतनी बिल्डिंग भी अच्छी बनेगी। तो सदा सेवाधारी समझ आगे बढ़ो। जैसे बाप ने आपको चुना वैसे आप फिर प्रजा को चुनो। स्वयं सदा निर्विघ्न बन सेवा को भी निर्विघ्न बनाते चलो। सेवा तो सभी करते हैं लेकिन निर्विघ्न सेवा हो, इसी में नम्बर मिलते हैं। जहाँ भी रहते हो वहाँ हर स्टूडेन्ट निर्विघ्न हो, विघ्नों की लहर न हो। शक्तिशाली वातावरण हो। इसको कहते हैं निर्विघ्न आत्मा। यही लक्ष्य रखो – ऐसा याद का वातावरण हो जो विघ्न आ न सके। किला होता है तो दुश्मन आ नहीं सकता। तो निर्विघ्न बन निर्विघ्न सेवाधारी बनो। अच्छा!

अलग-अलग ग्रुप से:-

1. सेवा करो और सन्तुष्टता लो। सिर्फ सेवा नहीं करना लेकिन ऐसी सेवा करो जिसमें सन्तुष्टता हो। सभी की दुआयें मिलें। दुआओं वाली सेवा सहज सफलता दिलाती है। सेवा तो प्लैन प्रमाण करनी ही है और खूब करो। खुशी उमंग से करो लेकिन यह ध्यान जरूर रखो – जो सेवा की उसमें दुआयें प्राप्त हुई? या सिर्फ मेहनत की? जहाँ दुआयें होगी वहाँ मेहनत नहीं होगी। तो अभी यही लक्ष्य रखो कि जिससे भी सम्पर्क में आयें उसकी दुआयें लेते जाएं। जब सबकी दुआयें लेंगे तब आधाकल्प आपके चित्र दुआयें देते रहेंगे। आपके चित्र से दुआयें लेने आते हैं ना। देवी या देवता के पास दुआयें लेने जाते हैं ना। तो अभी सर्व की दुआयें जमा करते हो तब चित्रों द्वारा भी देते रहते हो। फंक्शन करो, रैली करो.. वी. आई. पीज, आई पीज की सर्विस करो, सब कुछ करो लेकिन दुआओं वाली सेवा करो। (दुआयें लेने का साधन क्या है?) हाँ जी का पाठ पक्का हो। कभी भी किसी को ना ना करके हिम्मतहीन नहीं बनाओ। मानो अगर कोई रांग भी हो तो उसको सीधा रांग नहीं कहो। पहले उसे दिलासा दो, हिम्मत दिलाओ। उसको हाँ करके पीछे समझाओ तो वह समझ जायेगा। पहले से ही ना ना कहेंगे तो उसकी जो थोड़ी भी हिम्मत होगी वह खत्म हो जायेगी। रांग तो हो भी सकता है लेकिन रांग को रांग कहेंगे तो वह अपने को रांग कभी नहीं समझेगा, इसलिए पहले उसे हाँ कहो, हिम्मत बढ़ाओ फिर वह स्वयं जजमेन्ट कर लेगा। रिगार्ड दो। यह विधि सिर्फ अपना लो। रांग भी हो तो पहले अच्छा कहो, पहले उसको हिम्मत आये। कोई गिरा हुआ हो तो क्या उसको और धक्का देंगे या उठायेंगे? … उसे सहारा देकर पहले खड़ा करो। इसको कहते हैं उदारता। सहयोगी बनने वालों को सहयोगी बनाते चलो। तुम भी आगे मैं भी आगे। साथ-साथ चलते चलो। हाथ मिलाकर चलो तो सफलता होगी और सन्तुष्टता की दुआयें मिलेंगी। ऐसी दुआयें लेने में महान बनो तो सेवा में स्वत: महान हो जायेंगे।

सेवाधारियों से:- सेवा करते हुए सदा अपने को कर्मयोगी स्थिति में स्थित रहने का अनुभव करते हो कि कर्म करते हुए याद कम हो जाती है और कर्म में बुद्धि ज्यादा रहती है! क्योंकि याद में रहकर कर्म करने से कर्म में कभी थकावट नहीं होती। याद में रहकर कर्म करने वाले कर्म करते सदा खुशी का अनुभव करेंगे। कर्मयोगी बन कर्म अर्थात् सेवा करते हो ना! कर्मयोगी के अभ्यासी सदा ही हर कदम में वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ बनाते हैं। भविष्य खाता सदा भरपूर और वर्तमान भी सदा श्रेष्ठ। ऐसे कर्मयोगी बन सेवा का पार्ट बजाते हो, भूल तो नहीं जाता? मधुबन में सेवाधारी हैं तो मधुबन स्वत: ही बाप की याद दिलाता है। सर्व शक्तियों का खजाना जमा किया है ना! इतना जमा किया है जो सदा भरपूर रहेंगे। संगमयुग पर बैटरी सदा चार्ज है। द्वापर से बैटरी ढीली होती। संगम पर सदा भरपूर, सदा चार्ज है। तो मधुबन में बैटरी भरने नहीं आते हो, स्वहेज मनाने आते हो। बाप और बच्चों का स्नेह है इसलिए मिलना, सुनना, यही संगमयुग के स्वहेज हैं। अच्छा

यूथ रैली की सफलता के प्रति बापदादा के वरदानी महावाक्य

यूथ विंग भले बनाओ। जो भी करो – सन्तुष्टता हो, सफलता हो। बाकी तो सेवा के लिए ही जीवन है। अपने उमंग से अगर कोई कार्य करते हैं तो उसमें कोई हर्जा नहीं। प्रोग्राम है, करना है तो वह दूसरा रूप हो जाता है। लेकिन अपने उमंग उत्साह से करने चाहते हैं तो कोई हर्जा नहीं। जहाँ भी जायेंगे वहाँ जो भी मिलेंगे जो भी देखेंगे तो सेवा है ही। सिफ बोलना ही सर्विस नहीं होती लेकिन अपना चेहरा सदा हर्षित हो। रूहानी चेहरा भी सेवा करता है। लक्ष्य रखें उमंग-उत्साह से खुशी-खुशी से रूहानी खुशी की झलक दिखाते हुए आगे बढ़ें। सिर्फ जबरदस्ती कोई को नहीं करना है। प्रोग्राम बना है तो करना ही है, ऐसी कोई बात नहीं है, अपना उमंग-उत्साह है तो करे, अच्छा है।

अगर कोई में उमंग नहीं है तो बंधे हुए नहीं हैं। हर्जा नहीं है। वैसे जो लक्ष्य था इस गोल्डन जुबली तक सब एरिया को कवर करने का तो जैसे वह पैदल चलने वाले अपने ग्रुप में आयेंगे वैसे बस द्वारा आने वाले भी हों। हर जोन वा हर एरिया में बस द्वारा सर्विस करते हुए दिल्ली पहुँच सकते हैं। दो प्रकार के ग्रुप बना दो। एक बस द्वारा आते रहें और सेवा करते आवें और एक पैदल द्वारा। डबल हो जायेगा। कर सकते हैं, यूथ हैं ना। उनको कहाँ न कहाँ शक्ति तो लगानी ही है। सेवा में शक्ति लगेगी तो अच्छा है। इसमें दोनों ही भाव सिद्ध हो जाएं – सेवा भी सिद्ध हो और नाम भी रखा है पदयात्रा तो वह भी सिद्ध हो जाए। हर स्टेट वाले अगर उनका (पद-यात्रियों का) इन्टरव्यू लेने का पहले से ही प्रबन्ध रखेंगे तो ऑटोमेटिकली आवाज फैलेगा। लेकिन सिर्फ यह जरूर होना चाहिए कि रूहानी यात्रा दिखाई दे, पदयात्रा सिर्फ नहीं दिखाई दे, रूहानियत और खुशी की झलक हो। तो नवीनता दिखाई देगी। साधारण जैसे औरों की यात्रा निकलती है, वैसे नहीं लगे लेकिन ऐसे लगे यह डबल यात्री हैं, एक यात्रा नहीं करते हैं। याद की यात्रा वाले भी हैं, पद यात्रा वाले भी हैं। डबल यात्रा का प्रभाव चेहरे से दिखाई दे, तो अच्छा है।

विश्व के राजनेताओं के प्रति अव्यक्त बापदादा का मधुर सन्देश

विश्व के हर एक राज्य नेता अपने देश को वा देशवाशियों को प्रगति की ओर ले जाने की शुभ भावना, शुभकामना से अपने-अपने कार्य में लगे हुए हैं। लेकिन भावना बहुत श्रेष्ठ है, प्रत्यक्ष प्रमाण जितना चाहते हैं उतना नहीं होता – यह क्यों? क्योंकि आज की जनता वा बहुत से नेताओं के मन की भावनायें सेवा भाव, प्रेम भाव के बजाए स्वार्थ भाव, ईर्ष्या भाव में बदल गई है, इसलिए इस फाउण्डेशन को समाप्त करने के लिए प्राकृतिक शक्ति, वैज्ञानिक शक्ति वर्ल्डली नॉलेज की शक्ति, राज्य के अथॉरिटी की शक्ति द्वारा तो अपने प्रयत्न किये हैं लेकिन वास्तविक साधन स्प्रीचुअल पावर है, जिससे ही मन की भावना सहज बदल सकती है, उस तरफ अटेन्शन कम है, इसलिए बदली हुई भावनाओं का बीज नहीं समाप्त होता। थोड़े समय के लिए दब जाता है। लेकिन समय प्रमाण और ही उग्र रूप में प्रत्यक्ष हो जाता है। इसलिए स्प्रीचुअल बाप का स्प्रीचुअल बच्चों, आत्माओं प्रति सन्देश है कि सदा अपने को प्रिट (सोल) समझ स्प्रीचुअल बाप से सम्बन्ध जोड़ स्प्रीचुअल शक्ति ले अपने मन के नेता बनो तब राज्य नेता बन औरों के भी मन की भावनाओं को बदल सकेंगे। आपके मन का संकल्प और जनता का प्रैक्टिकल कर्म एक हो जायेगा। दोनों के सहयोग से सफलता का प्रत्यक्ष प्रमाण अनुभव होगा। याद रहे कि सेल्फ रूल अधिकारी ही सदा योग्य राजनेता के रूल अधिकारी बन सकते हैं। और स्वराज्य आपका स्प्रीचुअल फादरली बर्थ राइट है। इस बर्थ राइट की शक्ति से सदा राइटियस की शक्ति भी अनुभव करेंगे और सफल रहेंगे।

वरदान:- संगठन में रहते लक्ष्य और लक्षण को समान बनाने वाले सदा शक्तिशाली आत्मा भव
संगठन में एक दो को देखकर उमंग उत्साह भी आता है तो अलबेलापन भी आता है। सोचते हैं यह भी करते हैं, हमने भी किया तो क्या हुआ, इसलिए संगठन से श्रेष्ठ बनने का सहयोग लो। हर कर्म करने के पहले यह विशेष अटेन्शन वा लक्ष्य हो कि मुझे स्वयं को सम्पन्न बनाकर सैम्पुल बनना है। मुझे करके औरों को कराना है। फिर बार-बार इस लक्ष्य को इमर्ज करो। लक्ष्य और लक्षण को मिलाते चलो तो शक्तिशाली हो जायेंगे।
स्लोगन:- लास्ट में फास्ट जाना है तो साधारण और व्यर्थ संकल्पों में समय नहीं गंवाओ।

TODAY MURLI 9 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 February 2019 :- Click Here

09/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to do real spiritual service with your bodies, minds and wealth. It is only by your doing spiritual service that Bharat will become the golden age.
Question: What should you constantly remember in order to remain free from worry? When will you be able to remain carefree?
Answer: In order to remain carefree, always remember that this drama is created absolutely accurately. Whatever happens is absolutely accurate according to the drama. However, you children cannot remain carefree at this time. When you reach your karmateet stage you will be carefree. Very good yoga is needed for that. Yogi and gyani children cannot remain hidden.

Om shanti. The Purifier, God Shiva, speaks. The Father has explained that no bodily being can be called God. People also know that the Purifier can only be God. Shri Krishna cannot be called the Purifier. The poor people are very confused. It is only when the thread in Bharat is tangled that Shiv Baba has to come. No one except the Father can untangle it. He alone is the Purifier, Shiv Baba. Only you children know this, and that, too, is numberwise, according to the effort you make. Although you are sitting here and you listen to this every day, you don’t remain aware that you are sitting with Shiv Baba, that He is present in this one, teaching us, purifying us and telling us these methods. You become spinners of the discus of self-realisation, you receive the knowledge of the Creator and creation, you conquer lust and become conquerors of the world. So, that Father is the Purifier. He is also the Creator of the new creation. You are now making effort to attain the unlimited kingdom. Each one of you understands that you claim your fortune of the kingdom from Shiv Baba. Even this is not understood accurately. Some know this a little and some don’t know it at all. Shiv Baba says: I am the Purifier. If anyone comes and asks Me, I can give him My introduction. The Father has also given you His introduction. Shiv Baba says: I enter an ordinary body. This body is ordinary. He is standing at the top of the tree. He is shown standing in the impure world and doing tapasya down below. Shiv Baba also teaches this one how to do tapasya. Shiv Baba is teaching Raj Yoga. Down below is Adi Dev and at the top is Adi Nath (Lord). You children can say: We Brahmins are children of Shiv Baba. You too are children of Shiv Baba, but you don’t know it. God is One and all the rest are brothers. The Father says: I only teach My children. I only teach and make into deities those who recognize Me. Bharat itself was heaven and it is now hell. Only those who conquer lust will become conquerors of the world. I am establishing the golden world. Bharat has been in the golden age and then gone into the iron age many times. No one knows this. No one knows the Creator or the beginning, middle and end of creation. I am k nowledge -full. This is your aim and objective. I enter this one’s ordinary body and give you knowledge. You now have to become pure. By conquering those vices, you will become conquerors of the world. All of you children are making effort. You do spiritual service, not physical service, with your bodies, minds and wealth. This is called spiritual knowledge. This is not devotion. The ages for devotion are the copper and iron ages. They are also called the night of Brahma, whereas the golden and silver ages are called the day of Brahma. If someone who teaches the Gita comes, you should explain to him that there is a mistake in the Gita. Who spoke the Gita? Who taught Raj Yoga? Who said that by conquering lust you become the conquerors of the world? This Lakshmi and Narayan became the conquerors of the world, did they not? He sat and explained to them the secrets of their 84 births. No matter who it is, they have to come here to receive knowledge. I teach you children but, amongst you, too, some don’t understand very much and this is why it is remembered: A handful out of multimillions. Some only know five per cent of who I am and what I am. You have to know the Father and remember Him accurately. Why do you not remember Me constantly? You say: Baba, I forget to remember You. Oh! can you not remember Baba? In fact, the Father explains that this is something that requires effort. Nevertheless, He continues to pump you to make effort. Oh! You forget the Father who takes you to the ocean of milk and makes you into the masters of the world! Maya will definitely make you forget. It will take time. It isn’t that, because Maya will definitely make you forget, you can sit there coolly. No, you definitely have to make effort; you have to conquer lust. Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Just as I say to you children, “Child”, similarly, even if the highest judge comes, I would say “Child” to him too because I am God, the Highest on High. I alone teach you the highest study of all to enable you to receive the status of princes and princesses. The Father says: I teach this one. This one then becomes Shri Krishna. Brahma and Saraswati then become Lakshmi and Narayan. This family path continues. Those on the path of isolation cannot teach Raj Yoga. Both king and queen are needed. Those people go abroad and say that they are teaching Raj Yoga. However, they say that happiness is like the droppings of a crow. So, how can they teach Raj Yoga? Therefore, you children should have that enthusiasm. However, children are still young, they haven’t yet become mature; they need courage for maturity. The Father tells you: This is the community of Ravan. You call out: O Purifier, come! So, is this an impure world or a pure world? You understand that you are residents of hell. Is this the deity community? Is this the kingdom of Rama? Do you not belong to the kingdom of Ravan? At this time, everyone in the kingdom of Ravan has a devilish intellect. Now, who would make a devilish intellect divine? Ask four to five such questions that would make people think. It is the duty of you children to give the Father’s introduction. The tree grows gradually. Then, there will be a lot of expansion. Maya too puts you in a spin and knocks you down completely. Many die in boxing and many die here too. They fall into vice and die. They then have to make effort from the beginning. Vice completely kills them. Whatever rust they had removed by becoming pure from impure, all of that income is lost. They then have to make effort anew. You can’t say that you mustn’t allow someone to come. No, you have to explain to that one: Everything you had earned on the pilgrimage of remembrance and by studying is destroyed. They fall down so low. If you repeatedly continue to fall down, you would be told to get out. You are given a trial once or twice. You are forgiven twice and it then becomes a hopeless case. They would go there, but in a dirty class. This is what would be said in comparison. Those who receive a completely low status are said to be in a dirty class. There are maids, servants, cremators and also maids and servants of the subjects. The Father knows that He is teaching you, that He teaches you every 5000 years. Those people speak of hundreds of thousands of years. As you progress further, they will begin to say: Truly this is a matter of 5000 years. It is the same great war. However, they cannot stay on the pilgrimage of remembrance. Day by day, it continues to become too late. It is remembered: A lot of time has gone by and a little remains. All of those matters refer to this time. There is little time left to become pure. The war is just ahead. Ask your heart: Am I on the pilgrimage of remembrance? When new people come, you children should definitely make them fill in a form. Only when they fill in a form can you then explain to them. If someone doesn’t want to understand, what would he put on the form? So many people come here just like that. Tell them: You call out to the Father: O Purifier, come! So, this is surely an impure world. This is why you call out: O Purifier, come and make us pure! Some become this and others don’t. Baba receives many letters. All of you write: Shiv Baba c/o Brahma. Shiv Baba also says: I enter an ordinary body. I tell him his story of 84 births. No other human being knows the beginning, middle and end of creation. The Father has now told you. Baba has had these pictures etc. made by giving you children divine visions. Baba only teaches you souls. Souls quickly become bodiless. You have to consider yourselves to be separate from those bodies. Baba says: Children, may you be soul conscious! May you be bodiless! I am teaching you souls. This is the meeting of souls with the Supreme Soul. This is called the meeting of the confluence age. Ganges water does not purify anyone. Sages, holy men, rishis and munis etc. all go to bathe in the Ganges. How can the Ganges be the Purifier? God speaks: Lust is the greatest enemy. By conquering it, you will become the masters of the world. Neither the Ganges nor the ocean say this. The Father, the Ocean of Knowledge, is explaining to you. In order to conquer that lust, constantly remember Me alone and you will become pure. Imbibe divine virtues. Don’t cause anyone sorrow. The number one sorrow is to use the sword of lust. That causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. It doesn’t exist in the golden age. That is the pure world. There is no one impure there. Just as you claim the kingdom through the power of yoga, children are born there through the power of yoga. The kingdom of Ravan doesn’t exist there. You people burn an effigy of Ravan, but you don’t know when you started to burn him. Ravan doesn’t exist in the kingdom of Rama. The Father is sitting here and explaining these matters to you which have to be understood. He explains very well, but, according to how much each one of you studies every cycle, so you will study now. Everything can be known through the effort you make. There is also the subject of physical service. If you can’t serve through the mind, then serve through words and deeds. It is very easy to serve through words. First of all there is service through the mind, that is, Manmanabhav: stay on the pilgrimage of remembrance. Consider yourself to be a soul and remember the Father. Take teachings from the Baba. There are many who are unable to remember the Father. You wouldn’t say that they are unable to remember knowledge. They are unable to remember the One constantly. How will you receive power if you don’t remember Him? The Father is the Almighty Authority. By remembering Him, you will receive power. This is called strength. If someone does good service through deeds, he can receive a good status. If you don’t serve through deeds, what status will you receive? There are the subjects. These are incognito matters and have to be understood. Those people speak of yoga, but they don’t understand that you claim the sovereignty of the world by having yoga. No one knows that children are born there through the power of yoga. This is explained to you, but, nevertheless, after half the cycle, you become slaves of Maya. Maya doesn’t leave you alone even now. You now have to become Shiv Baba’s slaves. Do not become slaves of bodily beings. It is now that you are called brothers and sisters in order for you to become pure. Then, you have to go beyond that too: you have to consider yourselves to be brothers. There shouldn’t even be the vision of brother and sister. Whatever happens is absolutely accurate according to the drama. The drama is very accurate. The Father is free from worry. This one would definitely have some worries. Only when you reach your karmateet stage will you remain carefree. Until then, something or other will continue to happen. Very good yoga is needed. Baba is now emphasizing yoga. It is about this that you say you repeatedly forget. The Father complains: You forget the Father who gives you so many treasures! The Father knows who has knowledge and who doesn’t. Knowledgeable souls can never remain hidden; they would quickly give the proof of service. Therefore, all of these matters have to be understood. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be defeated while boxing Maya. Don’t just sit down and become slack in making effort. Have courage and do service.
  2. This drama is created accurately . Therefore, don’t worry about anything. In order to reach your karmateet stage, stay in remembrance of the Father. Don’t become a slave to any bodily being.
Blessing: May you be a true Raj Rishi who remains free from all attachment by having an attitude of unlimited disinterest.
A Raj Rishi means one who has a kingdom and, on the other hand, a Rishi means one who has unlimited disinterest. If there is any attachment to oneself, to another person, to any object, you cannot then be a Raj Rishi. Those who have even the slightest thought of attachment have their feet in two boats and they are then neither here nor there. So, become a Raj Rishi, have unlimited disinterest, that is, belong to the one Father and none other. Make this lesson firm.
Slogan: Anger is a form of fire which burns oneself and also others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 February 2019

To Read Murli 8 February 2019 :- Click Here
09-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें तन-मन-धन से सच्ची रूहानी सेवा करनी है, रूहानी सेवा से ही भारत गोल्डन एज बन जायेगा”
प्रश्नः- बेफिक्र रहने के लिए सदा कौन-सी बात याद रखो? तुम बेफिक्र कब रह सकेंगे?
उत्तर:- बेफिक्र रहने के लिए सदा याद रहे कि यह ड्रामा बिल्कुल एक्यूरेट बना हुआ है। जो भी ड्रामा अनुसार चल रहा है यह बिल्कुल एक्यूरेट है। परन्तु अभी तुम बच्चे बेफिक्र रह नहीं सकते, जब तुम्हारी कर्मातीत अवस्था हो, तब तुम बेफिक्र बनेंगे, इसके लिए योग बहुत अच्छा चाहिए। योगी और ज्ञानी बच्चे छिप नहीं सकते।

ओम् शान्ति। पतित-पावन शिव भगवानुवाच। बाप ने समझा दिया है कि देहधारी मनुष्य को कभी भी भगवान् नहीं कहा जा सकता। मनुष्य यह भी जानते हैं, पतित-पावन भगवान् ही है। श्रीकृष्ण को पतित-पावन नहीं कहेंगे। बिचारे बहुत मूँझे हुए हैं। भारत में जब सूत मूँझ जाता है तब शिवबाबा को आना पड़ता है। बाप के बिना उसे कोई सुलझा न सके। वो ही पतित-पावन शिवबाबा है, जिसको सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। भल यहाँ बैठे हैं, रोज़ सुनते हैं तो भी ध्यान में यह नहीं आता है कि हम शिवबाबा के पास बैठे हैं, वह इनमें विराजमान हैं, हमको पढ़ा रहे हैं, पावन बना रहे हैं, युक्ति बतला रहे हैं।

तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन रचता और रचना की नॉलेज पाकर काम को जीत जगतजीत बनते हो। तो वह बाप पतित-पावन भी ठहरा। नई रचना का रचता भी ठहरा। अभी बेहद का राज्य पाने के लिए तुम पुरुषार्थ करो। हरेक समझते हैं हम शिवबाबा से राज्य-भाग्य ले रहे हैं। यह भी यथार्थ रीति समझ नहीं सकते। कोई थोड़ा जानते, कोई तो बिल्कुल ही नहीं जानते। शिवबाबा तो कहते हैं पतित-पावन मैं हूँ। मेरे से अगर कोई आकर पूछे तो मैं अपना परिचय दे सकता हूँ। तुमको भी तो बाप ने अपना परिचय दिया है ना। शिवबाबा कहते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। यह साधारण तन है। झाड़ के अन्त में खड़ा है। पतित दुनिया में खड़ा है और फिर नीचे तपस्या कर रहे हैं। इनको भी तपस्या शिवबाबा सिखला रहे हैं। राजयोग शिवबाबा सिखाते हैं। नीचे आदि देव, ऊपर में आदि नाथ। तुम बच्चे समझा सकते हो हम ब्राह्मण शिवबाबा की सन्तान हैं। तुम भी शिवबाबा के बच्चे हो परन्तु जानते नहीं हो। भगवान् एक है, बाकी सब ब्रदर्स हैं। बाप कहते हैं मैं अपने बच्चों को ही पढ़ाता हूँ। जो मुझे पहचानते हैं उन्हों को ही पढ़ाकर देवता बनाता हूँ। भारत ही स्वर्ग था, अब नर्क है। जो काम को जीतेगा वही जगतजीत बनेगा। मैं गोल्डन वर्ल्ड की स्थापना कर रहा हूँ। अनेक बार यह भारत गोल्डन एज में था, फिर आइरन एज में आया – यह कोई भी जानते नहीं। रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को कोई जानते नहीं। मैं नॉलेजफुल हूँ। यह है एम ऑब्जेक्ट। मैं इनके साधारण तन में प्रवेश होकर नॉलेज देता हूँ। अब तुम भी पवित्र बनो। इन विकारों को जीतने से तुम जगतजीत बनेंगे। यह सब बच्चे पुरुषार्थ कर रहे हैं। तन-मन-धन से रूहानी सेवा करते हैं, जिस्मानी नहीं। इनको प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है। यह भक्ति नहीं है। भक्ति का युग है द्वापर-कलियुग, जिसको ब्रह्मा की रात कहा जाता है और सतयुग-त्रेता को ब्रह्मा का दिन कहा जाता है। कोई गीतापाठी आये तो उनको भी समझायेंगे गीता में भूल है। गीता किसने सुनाई, राजयोग किसने सिखाया, किसने कहा है काम पर जीत पाने से तुम जगतजीत बन जायेंगे? यह लक्ष्मी-नारायण भी जगतजीत बने हैं ना। इनके 84 जन्मों का राज़ बैठ समझाये। कोई भी हो, नॉलेज लेने के लिए तो यहाँ आना पड़ेगा ना। मैं तो बच्चों को पढ़ाता हूँ। परन्तु तुम्हारे में भी कोई इतना नहीं समझते हैं, इसलिए गायन है कोटों में कोई….। मैं जो हूँ, जैसा हूँ कोई तो यह 5 परसेन्ट भी नहीं जानते। तुम्हें बाप को जानकर पूरी रीति याद करना है। मामेकम् याद क्यों नहीं करते हो? कहते हैं बाबा याद भूल जाती है। अरे, तुम बाबा को याद नहीं कर सकते हो। यूँ तो बाप समझते हैं यह मेहनत का काम है, फिर भी पुरुषार्थ कराने के लिए पम्प करते रहते हैं। अरे, जो बाप तुमको क्षीरसागर में ले जाते हैं, विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको भूल जाते हो! माया भुलायेगी भी जरूर। टाइम लगेगा। ऐसे भी नहीं कि माया को भुलाना ही है, इसलिए ठण्डे होकर बैठ जाओ। नहीं, पुरुषार्थ जरूर करना है। काम पर जीत पानी है। मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। जैसे तुम बच्चों को बोलता हूँ वैसे कोई भी बड़े से बड़ा जज आयेगा, उनको भी बाप बोलेंगे ना – “बच्चे” क्योंकि मैं तो ऊंचे से ऊंचा भगवान् हूँ। ऊंचे से ऊंची पढ़ाई मैं ही पढ़ाता हूँ, प्रिन्स-प्रिन्सेज पद पाने के लिए। बाप कहते हैं मैं इनको पढ़ा रहा हूँ। यही फिर श्रीकृष्ण बनते हैं। ब्रह्मा-सरस्वती, वो ही फिर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। यह प्रवृत्ति मार्ग चला आता है। निवृति मार्ग वाले राजयोग सिखला न सकें। राजा-रानी दोनों चाहिए। विलायत में जाकर कहते हैं हम राजयोग सिखलाते हैं। परन्तु वह तो सुख को काग विष्टा समान कहते हैं फिर राजयोग कैसे सिखायेंगे। तो बच्चों को उछल आनी चाहिए। परन्तु बच्चे अजुन छोटे हैं, बालिग नहीं बने हैं। बालिगपने की हिम्मत चाहिए।

बाप बतलाते हैं – यह है रावण सम्प्रदाय। तुम पुकारते हो पतित-पावन आओ। तो यह पतित दुनिया है या पावन दुनिया है? तुम समझते हो ना कि हम नर्कवासी हैं। क्या यह दैवी सम्प्रदाय है? रामराज्य है? तुम रावण राज्य के नहीं हो? अब रावण राज्य में सबकी आसुरी बुद्धि है। अब आसुरी बुद्धि को दैवी बुद्धि बनाने वाला कौन? ऐसे 4-5 प्रश्न पूछो तो मनुष्य सोच में पड़ जायें। तुम बच्चों का काम है बाप का परिचय देना। झाड़ तो धीरे-धीरे बढ़ता है। फिर बहुत वृद्धि को पायेंगे। माया भी चकरी लगाकर एकदम गिरा देती है। बॉक्सिंग में भी बहुत मरते हैं, इसमें भी बहुत मर जाते हैं। विकार में गया और मरा। फिर नयेसिर पुरुषार्थ करना पड़े। विकार एकदम मार डालता है। जो कुछ जंक निकाल पतित से पावन बना, वह की कमाई चट हो जाती है। फिर नयेसिर मेहनत करनी पड़े। ऐसे नहीं, उनको एलाउ नहीं करना है। नहीं, उनको समझाना है जो कुछ याद की यात्रा की, पढ़ा वह सब ख़लास हो गया। एकदम नीचे गिर पड़ते हैं। फिर भी घड़ी-घड़ी अगर गिरते रहेंगे तो कहेंगे गेट आउट। एक-दो बारी अजमाया जायेगा। दो बारी म़ाफी मिली, फिर केस होपलेस हो जाता है। फिर आयेगा भी लेकिन एकदम डर्टी क्लास में। भेंट में तो ऐसे कहेंगे ना। जो बिल्कुल कम पद पाते हैं उनको कहेंगे डर्टी क्लास। दास-दासियां, चण्डाल, प्रजा के भी नौकर-चाकर सब बनते हैं ना। बाप तो जानते हैं मैं इन्हों को पढ़ा रहा हूँ। हर 5 हजार वर्ष के बाद पढ़ाता हूँ। वह लोग लाखों वर्ष कह देते हैं। आगे चलकर यह भी कहने लग पड़ेगे कि बरोबर 5 हजार वर्ष की बात है। वो ही महाभारी लड़ाई है। परन्तु याद की यात्रा में रह न सकें। दिन प्रतिदिन टूलेट होते जायेंगे। गाया भी जाता है बहुत गई थोड़ी रही…..। यह सब इस समय की बातें हैं। बाकी थोड़ा समय है पावन बनने में। लड़ाई सामने खड़ी है। अपने दिल से पूछना है – हम याद की यात्रा पर हैं? जब कोई नया आता है तो बच्चों को फॉर्म जरूर भराना है। जब फॉर्म भरे तब उनको समझाया जाये। अगर किसको समझना ही नहीं है तो फॉर्म ही क्या भरेगा? ऐसे तो ढेर आते हैं। बोलो, बाप को पुकारते हो – पतित-पावन आओ तो जरूर यह पतित दुनिया है, तब तो कहते हैं कि आकर पावन बनाओ। फिर कोई बनते हैं, कोई नहीं बनते हैं। बाबा के पास पत्र तो ढेर आते हैं। सब लिखते हैं शिवबाबा केयरआफ ब्रह्मा। शिवबाबा भी कहते हैं – मैं साधारण तन में प्रवेश करता हैं। इनको 84 जन्मों की कहानी सुनाता हूँ। और कोई भी मनुष्य रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते हैं। अब बाप ने ही तुमको बताया है। यह चित्र आदि भी बाबा ने दिव्य दृष्टि देकर सब बनवाये हैं।

बाबा तुम आत्माओं को ही पढ़ाते हैं। आत्मायें झट अशरीरी हो जाती हैं। इस शरीर से अपने को अलग समझना है, बाबा कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव, अशरीरी भव। मैं आत्माओं को पढ़ाता हूँ। यह मेला है आत्माओं और परमात्मा का, इसे संगम का मेला कहा जाता है। बाकी कोई पानी की गंगा पावन नहीं बनाती है। साधू, सन्त, ऋषि, मुनि आदि सब जाते हैं स्नान करने। अब गंगा पतित-पावनी हो कैसे सकती? भगवानुवाच है ना – काम महाशत्रु है, इस पर जीत पाने से तुम जगतजीत बन जायेंगे। गंगा वा सागर तो नहीं कहते। यह तो ज्ञान सागर बाप समझाते हैं, इन पर जीत पाने के लिए मामेकम् याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। दैवीगुण धारण करो, किसको दु:ख मत दो। पहला नम्बर दु:ख है काम कटारी चलाना। यही आदि, मध्य, अन्त दु:ख देने वाला है। सतयुग में यह होता नहीं। वह है पावन दुनिया, वहाँ कोई पतित रहता ही नहीं। जैसे तुम योगबल से राज्य लेते हो, वैसे वहाँ योगबल से बच्चा पैदा होता है। रावण राज्य ही नहीं। तुम लोग रावण को जलाते हो, पता ही नहीं पड़ता कि कब से जलाते आये हो। रामराज्य में रावण होता नहीं। यह बड़ी समझने की बातें हैं, जो बाप बैठ समझाते हैं। समझाते तो बहुत अच्छा हैं परन्तु कल्प-कल्प जो जितना पढ़े हैं, उतना ही पढ़ते हैं। पुरुषार्थ से सारा मालूम पड़ जाता है। स्थूल सेवा की भी सब्जेक्ट है, मन्सा नहीं तो वाचा, कर्मणा। वाचा तो बहुत सहज है। पहले है मन्सा अर्थात् मन्मनाभव, याद की यात्रा में रहना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाबा से शिक्षा लेनी है। बहुत हैं जो बाप को याद नहीं कर सकते। ऐसे नहीं कहेंगे कि ज्ञान को याद नहीं कर सकते। मामेकम् याद नहीं कर सकते। याद नहीं करेंगे तो त़ाकत कैसे मिलेगी। बाप सर्वशक्तिमान् है, उनको याद करने से ही शक्ति आयेगी, इसको ही जौहर कहा जाता है। कर्मणा भी कोई अच्छी करे तो पद मिले। कर्मणा भी नहीं करते तो फिर पद क्या मिलेगा। सब्जेक्ट होती है ना। यह है गुप्त समझने की बातें। वो लोग योग-योग कहते रहते हैं परन्तु समझते नहीं कि योग से तुम विश्व की बादशाही लेते हो। योगबल से ही वहाँ बच्चा पैदा होता है। यह भी किसको पता नहीं है। तुमको समझाया जाता है फिर भी आधाकल्प के बाद तुम माया के मुरीद (चेला) बन जाते हो। फिर माया तुमको अभी भी नहीं छोड़ती है। अब तुमको शिवबाबा के मुरीद बनना है। कोई भी देहधारियों का मुरीद नहीं बनना है। बहन-भाई भी अब कहा जाता है – पवित्र बनने के लिए। फिर तो इससे भी ऊपर जाना है। भाई-भाई समझना है। भाई-बहन की दृष्टि भी नहीं। ड्रामा अनुसार जो कुछ चलता है, बिल्कुल एक्यूरेट। ड्रामा बहुत एक्यूरेट है। बाप तो बेफिक्र है, इनको तो फिक्र जरूर रहेगा। बेफिक्र तब रहेंगे जब कर्मातीत अवस्था होगी, तब तक कुछ न कुछ होता है। योग अच्छा चाहिए। योग के लिए बाबा अब जोर देते हैं। इसके लिए कहते हैं घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप उल्हना देते हैं, जो बाप तुमको इतना खजाना देते हैं उनको तुम भूल जाते हो। बाप जानते हैं किसमें ज्ञान है, किसमें नहीं है। ज्ञानी कभी छिपा नहीं रहेगा। वह झट सर्विस का सबूत देगा। तो यह सब समझने की बातें हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया की बॉक्सिंग में हार नहीं खानी है। पुरुषार्थ में ठण्डा हो बैठ नहीं जाना है। हिम्मत रख सेवा करनी है।

2) यह ड्रामा एक्यूरेट बना हुआ है, इसलिए किसी भी बात का फिक्र नहीं करना है। कर्मातीत अवस्था को पाने के लिए एक बाप की याद में रहना है, किसी देहधारी का मुरीद नहीं बनना है।

वरदान:- बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा सर्व लगावों से मुक्त रहने वाले सच्चे राजऋषि भव
राजऋषि अर्थात् एक तरफ राज्य दूसरे तरफ ऋषि अर्थात् बेहद के वैरागी। अगर कहाँ भी चाहे अपने में, चाहे व्यक्ति में, चाहे वस्तु में कहाँ भी लगाव है तो राजऋषि नहीं। जिसका संकल्प मात्र भी थोड़ा लगाव है उसके दो नांव में पांव हुए, फिर न यहाँ के रहेंगे न वहाँ के, इसलिए राजऋषि बनो, बेहद के वैरागी बनो अर्थात् एक बाप दूसरा न कोई – यह पाठ पक्का करो।
स्लोगन:- क्रोध अग्नि रूप है जो खुद को भी जलाता और दूसरों को भी जला देता है।
Font Resize