daily murli 9 december

TODAY MURLI 9 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 December 2020

09/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the thoughts you have for Godly service are called pure thoughts; you are then free from other thoughts; they are not wasteful.
Question: In order to be saved from performing sinful actions, what should you remain free from being attracted to, even while fulfilling your duty?
Answer: You may serve your friends and relatives, but do that with alokik, Godly vision. You shouldn’t have strings of attachment for them. If you have thoughts about any relationship based on vices, the deeds you then perform become sinful. Therefore, be free from any attraction and fulfil your duty. Make as much effort as possible to remain soul conscious.

Om shanti. Today, the philosophy of thoughts, sinful thoughts and being free from ordinary thoughts, that is, the philosophy of action, neutral action and sinful action, is being explained to you. While you are here (in this world) you will definitely have thoughts. No human being can stay for even a moment without having thoughts. You have thoughts here and also in the golden age and on the path of ignorance too, but when you come onto the path of knowledge, thoughts should not just be ordinary thoughts because you have become instruments for God’s service. Therefore, the thoughts you have for the yagya are not just thoughts; it is being “nirsankalp” (free from thoughts). However, the useless thoughts you have, that is, whatever thoughts you have about the iron-aged world and iron-aged friends and relatives are called sinful. This is because it is through those thoughts that sins are performed and you only receive sorrow from them. However, when you have thoughts about the yagya and Godly service, you are said to be “nirsankalp” (free from thoughts). You may have pure thoughts of service. Look, Baba is sitting here to look after you children. Parents definitely have thoughts of serving their children, but those thoughts are not thoughts through which sins would be committed. However, if someone has thoughts of a relationship based on vice, then those definitely accumulate sin. Baba tells you children: You may serve your friends and relatives, but do so with alokik, Godly vision; let there be no strings of attachment. You should fulfil your duty while being free from any attraction. However, if some people here are unable to cut away karmic relationships, they should still not leave God. If you keep hold of His hand, you will attain one status or another. Each one of you knows what vice you have in you. If someone has even one vice, then that one is definitely body conscious. Those who don’t have any vices are soul conscious. If someone has any vice, there will definitely be punishment, whereas those who are free from vices will be liberated from punishment. For instance, there are some children who have no lust, anger, greed or attachment; they are able to do very good service. Their stage is filled with a lot of knowledge and yoga. All of you would also vote for that one. Just as I know, so you children also know that everyone would say, “This one is good,” of someone who is good. If someone has defects, others would vote for that one accordingly. Have this firm faith: Those who have any vices are unable to do service. Those who are vice-proof are able to do service and make others equal to themselves. This is why you must have complete victory over the vices. There has to be complete victory over sinful thoughts. When you have thoughts in the name of God, you are said to be free from ordinary thoughts. In fact, being “nirsankalp” is the stage when you don’t have any thoughts at all and you go beyond happiness and sorrow. That will happen at the end when you depart after settling your accounts and stay in a stage beyond happiness and sorrow up there. You won’t have any thoughts at that time. At that time, you will be in a stage beyond both actions and neutral actions. Here, you will definitely have thoughts because you have become instruments to purify the whole world. So, you would surely have pure thoughts about that. In the golden age, because you have pure thoughts, thoughts are not just thoughts; while doing anything, you do not create any karmic bondage. Do you understand? Only God can explain to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. He alone is the One who can free us from sins and He is therefore teaching us at the confluence age. Therefore, children, pay a lot of attention to yourselves. Continue to observe your karmic accounts. You have come here to settle your karmic accounts. It shouldn’t be that you come here and you continue to create more karmic accounts and that you have to experience punishment. The punishment in the jail of a womb is not a small thing. Because of this, you have to make a lot of effort. The destination is very high and you therefore have to move along with caution. You definitely have to conquer sinful thoughts. To what extent have you conquered sinful thoughts? To what extent do you remain in the stage of being free from thoughts, that is, in the stage of being beyond happiness and sorrow? You can know this for yourself. Those who are unable to understand this for themselves can ask Mama and Baba because you are their heirs and so they can tell you. With the stage of being free from ordinary thoughts, you can prevent not just your own sins, but also the sins of another sinful person so that any lustful person that comes in front of you will not have any vicious thoughts. When people go in front of the deity idols, they become peaceful. In the same way, you are deities in an incognito form. No one with vicious thoughts can come in front of you; if you are standing there yogyukt, even if there are lustful people with such thoughts, they cannot attack you. Look children, you have come here to God to give Him the sacrificial offering of vices, but some of you have not yet made the sacrifice accurately. Their yoga is not connected to God. Throughout the day, their intellects’ yoga continues to wander, that is, they haven’t become soul conscious. Because of being body conscious, they are influenced by the natures of others due to which they are unable to fulfil their responsibility of love to God. That is, they cannot claim a right to do service for God. Those who are taking service from God and then serving others, that is, those who are making impure ones pure are My true, pukka children. They receive a very high status. Now, God, Himself, has come and become your Father. If you create any other type of thought because of not recognizing that Father in an ordinary form, it means to be led to destruction. The time will now come when 108 Ganges of knowledge will attain their complete stage, but those who haven’t studied at all will only ruin themselves. Understand this firmly: Janijananhar (One who knows everything within each one) Baba is definitely watching everything of those who secretly perform wrong acts in the yagya. He then touches Baba, His corporeal form, for him to caution them. So, you mustn’t hide anything. Even if mistakes are made, by telling Him about them, you are protected in the future. Therefore, children, remain cautious! Children, each of you should first of all understand yourself: Who am I? What am I? When you say “I”, it does not refer to the body, but to the soul. Where did I, a soul, come from? Whose child am I? When a soul knows that I, a soul, am a child of the Supreme Father, the Supreme Soul, there will be happiness in remembering the Father. Children experience happiness when they know their father’s occupation. When a child is young and doesn’t know his father’s occupation, there isn’t that much happiness. As the child grows older, he comes to know his father’s occupation, and so the intoxication or happiness of that increases. So, first of all, know His occupation as to who Baba is and where He lives. When you say that the soul will merge in Him, it means that the soul becomes perishable and so who would have happiness about that? You should ask new students who come to you: What are you studying here? What status will you receive through it? Those who study in worldly colleges tell you that they are becoming a doctor or an engineer. So, you would have the faith that they are truly studying that. Here, too, students say that this is the world of sorrow, which is called hell, that is, it is the devil worldAgainst that is heaven which is called the deity world, heaven. Everyone knows this, because you can understand that this is not heaven; this is hell, that is, it is the world of sorrow. It is the world of sinful souls and that is why they call out to Him: Take us to a world of charity. The children who are studying here know that Baba is now taking them to that world. New students who come here should question the children; they should learn from the children. They can tell them the Teacher’s and the Father’s occupation. The Father would not sit and praise Himself. Would a teacher praise himself? The students would say that this teacher is like this. This is why it is said: Studentsreveal their master. You children have studied this course and so it is your duty to explain to the new ones who come. Would a teacher who teaches students for a BA or MA teach new students theABC? Some students are very clever and they also teach others. The mother guru has been remembered for that. She is the first mother of the deity religion and is called Jagadamba. There is a lot of praise of the mother. In Bengal, Kali, Durga, Saraswati and Lakshmi, these four, are worshipped a lot. One should know the occupation of all those four. For example, Lakshmi is the Goddess of Wealth. She ruled here and departed. However, the names Kali, Durga etc. are given to this one. If there are four mothers (goddesses), there should also be the four consorts. Narayan of Lakshmi is very well known. Who is Kali’s consort? (Shankar). However, Shankar is shown as the consort of Parvati. Parvati is not Kali. There are many who worship Kali. They remember the goddess but they don’t know about her consort. Kali must have either a consort or the Father, but no one knows about that. You have to explain that there is just this one world, which at some point in time becomes a world of sorrow, hell, and that same world then becomes Paradise or heaven in the golden age. Lakshmi and Narayan used to rule this world in the golden age. There isn’t a heaven in the subtle region where there are the subtle (forms of) Lakshmi and Narayan. Their images are here and so they surely ruled here and departed. The whole play takes place in the corporeal worldHistory and geography are also of this corporeal world. There is no history and geography of the subtle region. However, you have to put everything aside and first of all teach new students about Alpha and beta. Alpha is God; He is the Supreme Soul. Until they have understood this fully, their love for God won’t awaken and they won’t have that happiness. This is because, first of all, only when they know the Father can they also know His occupation and have that happiness. So, there is happiness in understanding this first aspect. God is everhappy, the Blissful One. We are His children and so why should we not have that happiness? Why isn’t there the feeling of bubbling happiness? I am son of God, I am an ever-happy, master god. When there isn’t that happiness, it proves that you do not consider yourself to be a son of God. God is everhappy, but I am not happy because I do not know the Father. It is a very simple matter. Instead of listening to this knowledge, some people prefer peace because there are many who won’t be able to take this knowledge. There isn’t that much time. Even if they simply understand Alpha and stay in silence, that too is good. For instance, even sannyasis go to the mountains and sit in the caves in remembrance of God. In the same way, if you stay in remembrance of the Supreme Father, the Supreme Soul, the Supreme Light, that is also good. Even sannyasis can remain viceless by having remembrance of Him. However, they would be unable to remember Him if they remained at home: their attachment to their children etc. would pull them. This is why they renounce everything. They become holy and so there is happiness in that. Sannyasis are the best of all. Adi Dev also became a sannyasi, did he not? Just opposite the Dilwala Temple is the temple to Adi Dev where he is shown doing tapasya. In the Gita too, it says: Renounce all bodily religions. When those people go away and have renunciation they become great souls. It is wrong to call a householder a great soul. God has come and inspired you to have renunciation. One has renunciation for happiness. Great souls can never be unhappy. Some kings also renounce everything, and so they throw away their crown etc. For instance, King Gopichand renounced everything. Therefore, there is definitely happiness in that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not perform any wrong act secretly. Do not hide anything from BapDada. Remain very, very cautious.
  2. Student shows master. Teach others what you have studied. You are the children of ever-happy God; stay in limitless happiness with this awareness.
Blessing: May you have pure and positive thoughts for others and give them regard with the intention of uplifting each soul.
To have elevated feelings for each soul, that is, to have feelings of uplifting each soul and making the soul move forward means to be one who has pure and positive thoughts for everyone. With your pure attitude and your stage of a well-wisher, transform the defects of others. Consider the weaknesses or defects of others to be your own and, instead of speaking about them and spreading them, to accommodate them and to transform these is to have regard. To make a big thing small, to make disheartened souls powerful and not be coloured by their company, but always to give them zeal and enthusiasm is to have regard. Only those who give such regard are ones who have pure and positive thoughts for others.
Slogan: Old nature and sanskars finish the fortune received through renunciation and so, renounce even these.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

09-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – जो संकल्प ईश्वरीय सेवा अर्थ चलता है, उसे शुद्ध संकल्प वा निरसंकल्प ही कहेंगे, व्यर्थ नहीं”
प्रश्नः- विकर्मो से बचने के लिए कौन सी फ़र्ज-अदाई पालन करते भी अनासक्त रहो?
उत्तर:- मित्र सम्बन्धियों की सर्विस भले करो लेकिन अलौकिक ईश्वरीय दृष्टि रखकरके करो, उनमें मोह की रग नहीं जानी चाहिए। अगर किसी विकारी संबंध से संकल्प भी चलता है तो वह विकर्म बन जाता है इसलिए अनासक्त होकर फ़र्जअदाई पालन करो। जितना हो सके देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करो।

ओम् शान्ति। आज तुम बच्चों को संकल्प, विकल्प, निरसंकल्प अथवा कर्म, अकर्म और विकर्म पर समझाया जाता है। जब तक तुम यहाँ हो तब तक तुम्हारे संकल्प जरूर चलेंगे। संकल्प धारण किये बिना कोई मनुष्य एक क्षण भी रह नहीं सकता है। अब यह संकल्प यहाँ भी चलेंगे, सतयुग में भी चलेंगे और अज्ञानकाल में भी चलते हैं परन्तु ज्ञान में आने से संकल्प, संकल्प नहीं, क्योंकि तुम परमात्मा की सेवा अर्थ निमित्त बने हो तो जो यज्ञ अर्थ संकल्प चलता वह संकल्प, संकल्प नहीं वह निरसंकल्प ही है। बाकी जो फालतू संकल्प चलते हैं अर्थात् कलियुगी संसार और कलियुगी मित्र सम्बन्धियों के प्रति चलते हैं वह विकल्प कहे जाते हैं जिससे ही विकर्म बनते हैं और विकर्मो से दु:ख प्राप्त होता है। बाकी जो यज्ञ प्रति अथवा ईश्वरीय सेवा प्रति संकल्प चलता है वह गोया निरसंकल्प हो गया। शुद्ध संकल्प सर्विस प्रति भले चलें। देखो, बाबा यहाँ बैठा है तुम बच्चों को सम्भालने अर्थ। उसकी सर्विस करने अर्थ माँ बाप का संकल्प जरूर चलता है। परन्तु यह संकल्प, संकल्प नहीं इससे विकर्म नहीं बनता है परन्तु यदि किसी का विकारी संबंध प्रति संकल्प चलता है तो उनका विकर्म अवश्य ही बनता है।

बाबा तुम बच्चों को कहते हैं कि मित्र सम्बन्धियों की सर्विस भले करो परन्तु अलौकिक ईश्वरीय दृष्टि से। वह मोह की रग नहीं आनी चाहिए। अनासक्त होकर अपनी फ़र्ज-अदाई पालन करनी चाहिए। परन्तु जो कोई यहाँ होते हुए कर्म सम्बन्ध में होते हुए उनको नहीं काट सकते तो भी उनको परमात्मा को नहीं छोड़ना चाहिए। हाथ पकड़ा होगा तो कुछ न कुछ पद प्राप्त कर लेंगे। अब यह तो हर एक अपने को जानते हैं कि मेरे में कौन सा विकार है। अगर किसी में एक भी विकार है तो वह देह-अभिमानी जरूर ठहरा, जिसमें विकार नहीं वह ठहरा देही-अभिमानी। किसी में कोई भी विकार है तो वो सजायें जरूर खायेंगे और जो विकारों से रहित हैं, वे सजाओं से मुक्त हो जायेंगे। जैसे देखो कोई-कोई बच्चे हैं, जिनमें न काम है, न क्रोध है, न लोभ है, न मोह है…, वो सर्विस बहुत अच्छी कर सकते हैं। अब उन्हों की बहुत ज्ञान विज्ञानमय अवस्था है। वह तो तुम सब भी वोट देंगे। अब यह तो जैसे मैं जानता हूँ वैसे तुम बच्चे भी जानते हो, अच्छे को सब अच्छा कहेंगे, जिसमें कुछ खामी होगी उनको सभी वही वोट देंगे। अब यह निश्चय करना जिनमें कोई विकार है वो सर्विस नहीं कर सकते। जो विकार प्रूफ हैं वो सर्विस कर औरों को आप समान बना सकेंगे इसलिए विकारों पर पूर्ण जीत चाहिए, विकल्प पर पूर्ण जीत चाहिए। ईश्वर अर्थ संकल्प को निरसंकल्प रखा जायेगा।

वास्तव में निरसंकल्पता उसी को कहा जाता है जो संकल्प चले ही नहीं, दु:ख सुख से न्यारा हो जाए, वह तो अन्त में जब तुम हिसाब-किताब चुक्तू कर चले जाते हो, वहाँ दु:ख सुख से न्यारी अवस्था में, तब कोई संकल्प नहीं चलता। उस समय कर्म अकर्म दोनों से परे अकर्मी अवस्था में रहते हो।

यहाँ तुम्हारा संकल्प जरूर चलेगा क्योंकि तुम सारी दुनिया को शुद्ध बनाने अर्थ निमित्त बने हुए हो तो उसके लिए तुम्हारे शुद्ध संकल्प जरूर चलेंगे। सतयुग में शुद्ध संकल्प चलने के कारण संकल्प, संकल्प नहीं, कर्म करते भी कर्मबन्धन नहीं बनता। समझा। अब कर्म, अकर्म और विकर्म की गति तो परमात्मा ही समझा सकता है। वही विकर्मो से छुड़ाने वाला है जो इस संगम पर तुमको पढ़ा रहे हैं इसलिए बच्चे अपने ऊपर बहुत ही सावधानी रखो। अपने हिसाब-किताब को भी देखते रहो। तुम यहाँ आये हो हिसाब-किताब चुक्तू करने। ऐसे तो नहीं यहाँ आकर भी हिसाब-किताब बनाते जाओ तो सजा खानी पड़े। यह गर्भ जेल की सजा कोई कम नहीं है। इस कारण बहुत ही पुरुषार्थ करना है। यह मंजिल बहुत भारी है इसलिए सावधानी से चलना चाहिए। विकल्पों के ऊपर जीत पानी है जरूर। अब कितने तक तुमने विकल्पों पर जीत पाई है, कितने तक इस निरसंकल्प अर्थात् दु:ख सुख से न्यारी अवस्था में रहते हो, यह तुम अपने को जानते रहो। जो खुद को नहीं समझ सकते हैं वह मम्मा, बाबा से पूछ सकते हैं क्योंकि तुम तो उनके वारिस हो, तो वह बता सकते हैं।

निरसंकल्प अवस्था में रहने से तुम अपने तो क्या, किसी भी विकारी के विकर्मो को दबा सकते हो, कोई भी कामी पुरुष तुम्हारे सामने आयेगा, तो उसका विकारी संकल्प नहीं चलेगा। जैसे कोई देवताओं के पास जाता है तो उनके सामने वह शान्त हो जाता है, वैसे तुम भी गुप्त रूप में देवतायें हो। तुम्हारे आगे भी किसी का विकारी संकल्प नहीं चल सकता है, परन्तु ऐसे बहुत कामी पुरुष हैं जिनका कुछ संकल्प अगर चलेगा तो भी वार नहीं कर सकेगा, अगर तुम योगयुक्त होकर खड़े रहेंगे तो।

देखो, बच्चे तुम यहाँ आये हो परमात्मा को विकारों की आहुति देने परन्तु कोई-कोई ने अभी कायदेसिर आहुति नहीं दी है। उन्हों का योग परमपिता से जुटा हुआ नहीं है। सारा दिन बुद्धियोग भटकता रहता है अर्थात् देही-अभिमानी नहीं बने हैं। देह-अभिमानी होने के कारण किसी के स्वभाव में आ जाते हैं, जिस कारण परमात्मा से प्रीत निभा नहीं सकते हैं अर्थात् परमात्मा अर्थ सर्विस करने के अधिकारी नहीं बन सकते हैं। तो जो परमात्मा से सर्विस ले फिर सर्विस कर रहे हैं अर्थात् पतितों को पावन कर रहे हैं वही मेरे सच्चे पक्के बच्चे हैं। उन्हें बहुत भारी पद मिलता है।

अभी परमात्मा खुद आकर तुम्हारा बाप बना है। उस बाप को साधारण रूप में न जानकर कोई भी प्रकार का संकल्प उत्पन्न करना गोया विनाश को प्राप्त होना। अभी वह समय आयेगा जो 108 ज्ञान गंगायें पूर्ण अवस्था को प्राप्त करेंगी। बाकी जो पढ़े हुए नहीं होंगे वे तो अपनी ही बरबादी करेंगे।

यह निश्चय जानना जो कोई इस ईश्वरीय यज्ञ में छिपकर काम करता है तो उनको जानी जाननहार बाबा देख लेता है, वह फिर अपने साकार स्वरूप बाबा को टच करता है, सावधानी देने अर्थ। तो कोई भी बात छिपानी नहीं चाहिए। भल भूलें होती हैं परन्तु उनको बताने से ही आगे के लिए बच सकते हैं इसलिए बच्चे सावधान रहना।

बच्चों को पहले अपने को समझना चाहिए कि मैं हूँ कौन, व्हाट एम आई। “मैं” शरीर को नहीं कहते, मैं कहते हैं आत्मा को। मैं आत्मा कहाँ से आया हूँ? किसकी सन्तान हूँ? आत्मा को जब यह मालूम पड़ जाए कि मैं आत्मा परमपिता परमात्मा की सन्तान हूँ तब अपने बाप को याद करने से खुशी आ जाए। बच्चे को खुशी तब आती है जब बाप के आक्यूपेशन को जानता है। जब तक छोटा है, बाप के आक्यूपेशन को नहीं जानता तब तक इतनी खुशी नहीं रहती। जैसे बड़ा होता जाता, बाप के आक्यूपेशन का पता पड़ता जाता तो वो नशा, वह खुशी चढ़ती जाती है। तो पहले उनके आक्यूपेशन को जानना है कि हमारा बाबा कौन है? वह कहाँ रहता है? अगर कहें आत्मा उसमें मर्ज हो जायेगी तो आत्मा विनाशी हो गई तो खुशी किसको आयेगी।

तुम्हारे पास जो नये जिज्ञासु आते हैं उनको पूछना चाहिए कि तुम यहाँ क्या पढ़ते हो? इससे क्या स्टेट्स मिलती है? उस कालेज में तो पढ़ने वाले बताते हैं कि हम डाक्टर बन रहे हैं, इन्जीनियर बन रहे हैं… तो उन पर विश्वास करेंगे ना कि यह बरोबर पढ़ रहे हैं। यहाँ भी स्टूडेन्टस बताते हैं कि यह है दु:ख की दुनिया जिसको नर्क, हेल अथवा डेवल वर्ल्ड कहते हैं। उनके अगेन्स्ट है हेविन अथवा डीटी वर्ल्ड, जिसको स्वर्ग कहते हैं। यह तो सभी जानते हैं, समझ भी सकते हैं कि यह वह स्वर्ग नहीं है, यह नर्क है अथवा दु:ख की दुनिया है, पाप आत्माओं की दुनिया है तब तो उसको पुकारते हैं कि हमको पुण्य की दुनिया में ले चलो। तो यह बच्चे जो पढ़ रहे हैं वह जानते हैं कि हमको बाबा उस पुण्य की दुनिया में ले चल रहे हैं। तो जो नये स्टूडेन्ट आते हैं उनको बच्चों से पूछना चाहिए, बच्चों से पढ़ना चाहिए। वह अपने टीचर का अथवा बाप का आक्यूपेशन बता सकते हैं। बाप थोड़ेही अपनी सराहना खुद बैठ करेंगे, टीचर अपनी महिमा खुद सुनायेगा क्या! वह तो स्टूडेन्ट सुनायेंगे कि यह ऐसा टीचर है, तब कहते हैं स्टूडेन्टस शोज़ मास्टर। तुम बच्चे जो इतना कोर्स पढ़कर आये हो, तुम्हारा काम है नयों को बैठ समझाना। बाकी टीचर जो बी.ए. एम.ए. पढ़ा रहे हैं वह बैठ नये स्टूडेन्ट को ए.बी.सी. सिखलायेंगे क्या! कोई-कोई स्टूडेन्ट अच्छे होशियार होते हैं, वह दूसरों को भी पढ़ाते हैं। उसमें माता गुरू तो मशहूर है। यह है डीटी धर्म की पहली माता, जिसको जगदम्बा कहते हैं। माता की बहुत महिमा है। बंगाल में काली, दुर्गा, सरस्वती और लक्ष्मी इन चार देवियों की बहुत पूजा करते हैं। अब उन चार का आक्यूपेशन तो मालूम होना चाहिए। जैसे लक्ष्मी है तो वह है गॉडेज आफ वेल्थ। वह तो यहाँ ही राज्य करके गई है। बाकी काली, दुर्गा आदि यह तो सब इस पर नाम पड़े हैं। अगर चार मातायें हैं तो उनके चार पति भी होने चाहिए। अब लक्ष्मी का तो नारायण पति प्रसिद्ध है। काली का पति कौन है? (शंकर) लेकिन शंकर को तो पार्वती का पति बताते हैं। पार्वती कोई काली नहीं है। बहुत हैं जो काली को पूजते हैं, माता को याद करते हैं लेकिन पिता का पता नहीं है। काली का या तो पति होना चाहिए या पिता होना चाहिए लेकिन यह कोई को पता नहीं है।

तुमको समझाना है कि दुनिया यह एक ही है, जो कोई समय दु:ख की दुनिया अथवा दोज़क बन जाती है वही फिर सतयुग में बहिश्त अथवा स्वर्ग बन जाती है। लक्ष्मी-नारायण भी इस ही सृष्टि पर सतयुग के समय राज्य करते थे। बाकी सूक्ष्म में तो कोई वैकुण्ठ है नहीं जहाँ सूक्ष्म लक्ष्मी-नारायण हैं। उनके चित्र यहाँ ही हैं तो जरूर यहाँ ही राज्य करके गये हैं। खेल सारा इस कारपोरियल वर्ल्ड में चलता है। हिस्ट्री जॉग्राफी इस कारपोरियल वर्ल्ड की है। सूक्ष्म-वतन की कोई हिस्ट्री-जॉग्राफी होती नहीं। लेकिन सभी बातों को छोड़ तुमको नये जिज्ञासु को पहले अल्फ सिखलाना है फिर बे समझाना है। अल्फ है गाड, वह सुप्रीम सोल है। जब तक यह पूरा समझा नहीं है तब तक परमपिता के लिए वह लव नहीं जागता, वह खुशी नहीं आती क्योंकि पहले जब बाप को जानें तब उनके आक्यूपेशन को भी जानकर खुशी में आवें। तो खुशी है इस पहली बात को समझने में। गाड तो एवरहैपी है, आनंद स्वरूप है। उनके हम बच्चे हैं तो क्यों न वह खुशी आनी चाहिए! वह गुदगुदी क्यों नहीं होती! आई एम सन आफ गाड, आई एम एवरहैपी मास्टर गाड। वह खुशी नहीं आती तो सिद्ध है अपने को सन (बच्चा) नहीं समझते हैं। गाड इज़ एवरहैपी बट आई एम नाट हैप्पी क्योंकि फादर को नहीं जानते हैं। बात तो सहज है।

कोई-कोई को यह ज्ञान सुनने के बदले शान्ति अच्छी लगती है क्योंकि बहुत हैं जो ज्ञान उठा भी नहीं सकेंगे। इतना समय कहाँ है। बस इस अल्फ को भी जानकर साइलेन्स में रहें तो वह भी अच्छा है। जैसे संन्यासी भी पहाड़ों की कन्दराओं में जाकर परमात्मा की याद में बैठते हैं। वैसे परमपिता परमात्मा की, उस सुप्रीम लाइट की याद में रहें तो भी अच्छा है। उसकी याद से संन्यासी भी निर्विकारी बन सकते हैं। परन्तु घर बैठे तो याद कर नहीं सकते। वहाँ तो बाल बच्चों में मोह जाता रहेगा, इसलिए तो संन्यास करते हैं। होली बन जाते तो उसमें सुख तो है ना। संन्यासी सबसे अच्छे हैं। आदि देव भी संन्यासी बना है ना। यह सामने उनका (आदि देव का) मन्दिर खड़ा है, जहाँ तपस्या कर रहे हैं। गीता में भी कहते हैं देह के सभी धर्मो का संन्यास करो। वह संन्यास कर जाते तो महात्मा बन जाते। गृहस्थी को महात्मा कहना बेकायदे है। तुमको तो परमात्मा ने आकर संन्यास कराया है। संन्यास करते ही हैं सुख के लिए। महात्मा कभी दु:खी नहीं होते। राजायें भी संन्यास करते हैं तो ताज आदि फेंक देते हैं। जैसे गोपीचन्द ने संन्यास किया, तो जरूर इसमें सुख है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी उल्टा कर्म छिपकर नहीं करना है। बापदादा से कोई भी बात छिपानी नहीं है। बहुत-बहुत सावधान रहना है।

2) स्टूडेन्ट शोज़ मास्टर, जो पढ़ा है वह दूसरों को पढ़ाना है। एवरहैपी गाड के बच्चे हैं, इस स्मृति से अपार खुशी में रहना है।

वरदान:- हर आत्मा को ऊंच उठाने की भावना से रिगार्ड देने वाले शुभचिंतक भव
हर आत्मा के प्रति श्रेष्ठ भावना अर्थात् ऊंच उठाने की वा आगे बढ़ाने की भावना रखना अर्थात् शुभ चिंतक बनना। अपनी शुभ वृत्ति से, शुभ चिंतक स्थिति से अन्य के अवगुण को भी परिवर्तन करना, किसी की भी कमजोरी वा अवगुण को अपनी कमजोरी समझ वर्णन करने के बजाए वा फैलाने के बजाए समाना और परिवर्तन करना यह है रिगार्ड। बड़ी बात को छोटा बनाना, दिलशिकस्त को शक्तिवान बनाना, उनके संग के रंग में नहीं आना, सदा उन्हें भी उमंग उत्साह में लाना – यह है रिगार्ड। ऐसे रिगार्ड देने वाले ही शुभचिंतक हैं।
स्लोगन:- त्याग का भाग्य समाप्त करने वाला पुराना स्वभाव-संस्कार है, इसलिए इसका भी त्याग करो।

TODAY MURLI 9 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 December 2019

09/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to the Father in order to create a fortune for yourselves. The children from whom God accepts everything have the most elevated fortune.
Question: Due to which mistake of the children does Maya become more powerful?
Answer: When you children forget Baba whilst eating, when you do not offer your food to Baba, it is then that Maya eats your food and becomes very powerful. She then causes you children distress. This small mistake of yours enables Maya to defeat you. This is why the Father’s direction is: Children, eat in remembrance of Me. Make a firm promise: Let me eat with only You. When you remember Him whilst you are eating, He is pleased.
Song: If not today, then tomorrow, the clouds will disperse.

Om shanti. You children understand that your days of misfortune are now changing into days of great fortune for ever. Your fortune continues to change, numberwise, according to your efforts. A student’s fortune continues to change at school too, that is, it continues to increase. You know very clearly that this night is now ending and that your fortune is changing. You are being showered with knowledge. Every sensible child understands that we are definitely changing from unfortunate ones to fortunate ones, that is, we are becoming the masters of heaven. Numberwise, according to our efforts, we are changing our misfortune into fortune. The night is now changing into the day. No one, but you children, understands this. Baba is incognito and His matters are also incognito. Human beings have written about easy knowledge and easy Raj Yoga in the scriptures. Those who wrote them are now dead, and those who read them are unable to understand anything because they are senseless. There is so much difference! You also understand, numberwise, according to how much effort you make. Not everyone makes the same amount of effort. Only you Brahmins know what it means to be unfortunate and what it means to be fortunate. Everyone else is in immense darkness. You have to wake them up by explaining to them. Those who belong to the sun dynasty are very fortunate. They are the ones who are becoming 16 celestial degrees full. We are creating the fortune of heaven for ourselves through the Father, the Father who creates heaven. You can also explain to those who speak English that you are receiving the fortune of heaven from Heavenly God, the Father. There is happiness in heaven and sorrow in hell. The golden age means the age of truth and happiness, and the iron age means the age of sorrow. This is a very easy matter to understand. We are now making effort. Many English and other Christian people will come here. When they come, you must tell them: We only remember the one Heavenly God, the Father, because death is standing ahead of us. The Father says: You have to come to Me. People go on pilgrimage. Buddhists have their pilgrimage places and Christians have theirs. Each religion has its distinct customs and systems. Here, it is a question of your intellects’ yoga. You have to return to the place from where you came down to play your partsGod, the Father, who established heaven, has told us this. We are showing you the true path. By remembering God, the Father, your final thoughts will lead you to your destination. When someone falls ill, everyone cautions him and says: Repeat Rama’s name. In Bengal, when someone is about to die, they take him to the Ganges and say: Chant the name of Hari (God) and you will go to Hari (God). However, no one goes to Him. In the golden age, you won’t say: Chant Rama or the name of Hari. The path of devotion begins in the copper age. It is not that God or a guru is remembered in the golden age. The only thing you remember there is that you are souls: I, this soul, will leave this body and take my next one. You remember your sovereignty. You understand that you will go and take birth in your kingdom. You now have the firm faith that you will definitely receive your sovereignty. Who else would you remember or give donations to or perform charity for? There is no one poor there that you would have to give a donation or perform charity. The customs and systems of the path of devotion are separate from the customs and systems of the path of knowledge. You now give everything to the Father and claim your inheritance for 21 births; that’s all. There will be no need to give donations or perform charity at that time. We give everything to God, the Father, and it is God who then accepts everything. If He didn’t accept it, how would He give you the return of it? If He didn’t accept it, that would be your misfortune. He has to accept it in order to remove your attachment. You children understand this secret. If there were no need, why would Baba accept it? You don’t have to collect anything here. You have to remove your attachment from everything here. Baba has explained that when you go somewhere, you should consider yourself to be very light. We are the Father’s children. We souls are even faster than a rocket. If you walked in such soul consciousness, you would never get tired. There would not be any consciousness of your body. It would be as though your legs were not working and that you were flying. You can go anywhere in soul consciousness. Previously, people used to go on pilgrimage etc. on foot. At that time, the intellects of human beings were not tamopradhan. They used to go with a lot of faith; they didn’t get tired. You receive help by remembering Baba. Even though devotees prayed to stone images for things, Baba fulfilled their desires at that time, temporarily. At that time, remembrance was rajopradhan and so, due to that, they received some power. There was no tiredness then. Important people now get tired very quickly. Poor people go on many pilgrimages. Wealthy ones go with great pomp and splendour on horseback whereas the poor go on foot. The wealthy do not receive as great a reward for their devotion and faith as the poor do. You know that, at this time, Baba is the Lord of the Poor. So, why do you become confused? Why do you forget Baba? Baba says: You don’t have to endure any difficulties. All you have to do is to remember the one Bridegroom. All of you are brides. Therefore, you have to remember your Bridegroom. Are you not ashamed that you eat without offering bhog to this Bridegroom? He is your Bridegroom as well as your Father. He asks: Will you not offer food to Me? You should offer your food to Me, should you not? Look at the clever methods that Baba shows you. You accept Him as your Father and your Bridegroom, do you not? You should first offer food to the One who feeds you. Baba says: Offer bhog to Me and then eat in remembrance of Me. This takes great effort. Baba repeatedly tells you that you must definitely remember Baba. This Baba himself repeatedly makes this effort. It is very easy for you kumaris; you have not climbed the ladder. A kumari becomes engaged to her fiancé. You should eat your food after remembering such a Bridegroom. When you remember Him, He comes to you. When you remember Him, He takes the fragrance of the food. Therefore, you should instil the habit of speaking to Baba in this way. When you stay awake at night in remembrance of Him, that practice will develop and there will then be remembrance during the day too. You should also remember Baba whilst you are eating. You are betrothed to that Bridegroom. You have to keep the firm promise: I will eat with only You. Only when you remember Him would He eat it, would He not? He is only going to take the fragrance anyway, because He doesn’t have a body of His own. It is very easy for you kumaris; you have more facilities. Shiv Baba, my beautiful Bridegroom, You are so sweet! I have been remembering You for half a cycle. You have now come and met me. You should also eat what I am eating. It is not enough just to remember Him once and then continue to eat on your own and forget to feed Him. If you forget Him, He cannot take anything. You eat a variety of foods, like rice and lentils, mangoes or a sweet etc. It shouldn’t be that you remember Him at the beginning and then stop. How would He then eat the other things? If your Bridegroom doesn’t eat it, Maya would come in between you and eat it. She would not allow Him to eat it. You can see that when Maya eats it she becomes powerful and keeps defeating you. Baba shows you all the methods. If you remember Baba, your Father, your Bridegroom, would remain very pleased with you. You say: Baba, I want to eat with only You and sit with only You. I eat in remembrance of You. On the basis of this knowledge we know, that You will only take the fragrance. This body has been taken on loan. Baba comes when you remember Him. Everything depends on your remembrance. This is what is meant by yoga. Yoga requires effort. Sannyasis would never say this. If you want to make effort, note down all of Baba’s shrimat and make effort fully. Baba shares his experiences. He says: Perform the same deeds that I perform. I am teaching you those deeds. Baba doesn’t have to perform deeds. In the golden age, you do not suffer for your actions. Baba tells you a very easy thing to do: Let me eat with You alone and listen to You alone. This is remembered of you. Remember Him in the form of your Bridegroom or your Father. It has been remembered that you can extract points of knowledge by churning the ocean of knowledge. By your practising this, your sins can be absolved and you will also become healthy. Those who make effort will profit from it and those who do not will lose out. Not everyone in the world will become a master of heaven. This too is taken into account. Baba explains everything very clearly. You heard in the song that you are going on a pilgrimage. You definitely have to eat food etc. on a pilgrimage. A bride eats with her bridegroom and a child with his or her father. The same happens here. The more love you have for your Bridegroom, the higher your degree of happiness will rise. Your intellects will develop faith and you will become victorious. To have yoga means to race. This is the race of your intellects’ yoga. You are students and the Teacher is teaching you how to run this race. The Father says: Don’t think that you only have to act through the day. After you have acted, you must become like a tortoise and sit in remembrance. Buzzing moths buzz around throughout the day and then some fly away and others die. That is just an example. You Brahmins buzz knowledge and make others similar to yourselves. Some develop a great deal of love. Some decay, some only half-develop: they run away and then become insects again. It is very easy to buzz all of this knowledge. The saying “It didn’t take God long to change humans into deities” has been remembered. We are now having yoga. We are making effort to become deities. This knowledge is mentioned in the Gita: He changed human beings into deities and then departed. Everyone in the golden age was a deity. It must have been at the confluence age that God came and changed humans into deities. The yoga for becoming a deity would not be taught in the golden age. The deity religion began at the beginning of the golden age. By the end of the iron age, religion is devilish. This aspect is only written in the Gita. It doesn’t take God long to change humans into deities, because He gives you your aim and objective. There, there will only be the one religion for everyone in the world. The whole world will exist; it is not that China and Europe will not exist. They will exist, but human beings will not exist there. There will only be those who belong to the deity religion. Those of other religions will not exist. It is now the iron age and it is God who is changing you from humans into deities. The Father says: You will be constantly happy for 21 births. There is nothing difficult about this. You have been making so much effort on the path of devotion in order to reach God. It is said that someone went beyond sound, to nirvana. They would never say that he went to God. They would say that he went to heaven. Heaven is not created for just one soul to go there; all of you have to go there. It is written in the Gita that God is the Death of all Deaths. He takes everyone home like a swarm of mosquitoes. The intellect also says that this cycle has to repeat. So, first, the deity religion of the golden age will definitely repeat, and then the other religions will repeat. Baba tells you such an easy thing: Manmanabhav! That’s all! The God of the Gita also said 5000 years ago: Beloved children! If it had been Krishna who said this, people of other religions wouldn’t have heard it. When God says this, you all feel that God, the Father, is the One who establishes heaven. You will then go and become rulers of the globe there. There is no expense etc. in this. You simply have to know the beginning, the middle and the end of the world. You children have to churn the ocean of knowledge. While you are doing everything day and night, continue to make such effort. If you don’t churn the ocean of knowledge and remember the Father, but simply continue to act during the day, you will then have just those thoughts at night. Those who build buildings will only think about buildings. Although the responsibility of churning the ocean of knowledge has been given to this one (Brahma), it is said that Lakshmi was given the urn of nectar, and you all have to become like Lakshmi. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Note down shrimat and make effort. You must only perform the actions that the father was taught by performing those actions himself. Churn the ocean of knowledge and extract points of knowledge.
  2. Promise yourself that you will eat food in remembrance of the Father alone. “I will sit with only You and eat with only You.” You have to fulfil this promise of yours.
Blessing: May you be a jewel who has pure and positive thoughts for others and free souls from worrying with the power of your own pure and positive thoughts.
In today’s world, all souls are jewels of worry. With the power of your pure and positive thoughts, you jewels who have pure and positive thoughts for others, can transform those jewels of worry. Just as the rays of the sun from far, far away dispel darkness, in the same way, the shine and rays in the form of pure thoughts of you jewels of pure and positive thoughts spread in all directions of the world. This is why they believe that some spiritual light is doing its work in an incognito way. They have begun to have this touching and are looking for you. Eventually, they will reach this place.
Slogan: In order to catch BapDada’s directions clearly, keep the line of your mind and intellect clear.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 December 2019

09-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम बाप के पास आये हो अपना सौभाग्य बनाने, परम सौभाग्य उन बच्चों का है – जिनका ईश्वर सब-कुछ स्वीकार करता है”
प्रश्नः- बच्चों की किस एक भूल से माया बहुत बलवान बन जाती है?
उत्तर:- बच्चे भोजन के समय बाबा को भूल जाते हैं, बाबा को न खिलाने से माया भोजन खा जाती, जिससे वह बलवान बन जाती है, फिर बच्चों को ही हैरान करती है। यह छोटी-सी भूल माया से हार खिला देती है इसलिए बाप की आज्ञा है-बच्चे, याद में खाओ। पक्का प्रण करो-तुम्हीं से खाऊं….. जब याद करेंगे तब वह राज़ी होगा।
गीत:- आज नहीं तो कल बिखरेंगे यह बादल….. 

ओम् शान्ति। बच्चे समझते हैं कि हमारे दुर्भाग्य के दिन बदलकर अब सदा के लिए सौभाग्य के दिन आ रहे हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार भाग्य बदलते ही रहते हैं। स्कूल में भी भाग्य बदलते रहते हैं ना अर्थात् ऊंच होते जाते हैं। तुम अच्छी रीति जानते हो-अब यह रात खत्म होने वाली है, अब भाग्य बदल रहा है। ज्ञान की वर्षा होती रहती है। सेन्सीबुल बच्चे समझते हैं बरोबर दुर्भाग्य से हम सौभाग्यशाली बन रहे हैं अर्थात् स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हम अपना दुर्भाग्य से सौभाग्य बना रहे हैं। अब रात से दिन हो रहा है। यह तुम बच्चों बिगर कोई को पता नहीं है। बाबा गुप्त है तो उनकी बातें भी गुप्त हैं। भल मनुष्यों ने बैठकर सहज राजयोग और सहज ज्ञान की बातें शास्त्रों में लिखी हैं परन्तु जिन्होंने लिखा वह तो मर गये। बाकी जो पढ़ते हैं वह कुछ समझ नहीं सकते हैं क्योंकि बेसमझ हैं। कितना फ़र्क है। तुम भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते हो। सभी एकरस पुरूषार्थ नहीं करते हैं। दुर्भाग्य किसको, सौभाग्य किसको कहा जाता है-यह सिर्फ तुम ब्राह्मण ही जानते हो। और तो सभी घोर अन्धियारे में हैं। उनको जगाना है समझाकर। सौभाग्यशाली कहा जाता है सूर्यवंशियों को, 16 कला सम्पूर्ण वही हैं। हम बाप से स्वर्ग के लिए सौभाग्य बना रहे हैं, जो बाप स्वर्ग रचने वाला है। अंग्रेजी जानने वालों को भी तुम समझा सकते हो हम हेविनली गॉड फादर द्वारा हेविन का सौभाग्य बना रहे हैं। हेविन में है सुख, हेल में है दु:ख। गोल्डन एज माना सतयुग सुख, आइरन एज माना कलियुग दु:ख। बिल्कुल सहज बात है। हम अभी पुरूषार्थ कर रहे हैं। अंग्रेज, क्रिश्चियन आदि बहुत आयेंगे। बोलो, हम अब सिर्फ एक ही हेविनली गॉड फादर को याद करते हैं क्योंकि मौत सामने खड़ा है। बाप कहते हैं तुमको मेरे पास आना है। जैसे तीर्थों पर जाते हैं ना। बौद्धियों का अपना तीर्थ स्थान है, क्रिश्चियन का अपना। हर एक की रस्म-रिवाज अपनी होती है। हमारी है बुद्धियोग की बात। जहाँ से पार्ट बजाने आए हैं, वहाँ फिर जाना है। वह है हेविन स्थापन करने वाला गॉड फादर। उसने हमको बताया है हम आपको भी सच्चा पथ (रास्ता) बतलाते हैं। बाप गॉड फादर को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। जब कोई बीमार पड़ते हैं तो उनको सभी जाकर सावधान करते हैं कि राम कहो। बंगाल में जब कोई मरने पर होता है तो गंगा पर ले जाते हैं फिर कहते हैं हरी बोल, हरी बोल…. तो हरी के पास चले जायेंगे। परन्तु कोई जाता नहीं है। सतयुग में तो कहेंगे नहीं कि राम-राम कहो या हरी बोल कहो। द्वापर से फिर यह भक्ति मार्ग शुरू होता है। ऐसे नहीं, सतयुग में कोई भगवान या गुरू को याद किया जाता है। वहाँ तो सिर्फ अपनी आत्मा को याद किया जाता है, हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेगी। अपनी बादशाही याद पड़ती है। समझते हैं हम बादशाही में जाकर जन्म लेंगे। यह अब पक्का निश्चय है, बादशाही तो मिलनी ही है ना। बाकी किसको याद करेंगे अथवा दान-पुण्य करेंगे? वहाँ कोई गरीब होता ही नहीं जिसको बैठ दान-पुण्य करें। भक्ति मार्ग की रस्म-रिवाज अलग, ज्ञान मार्ग की रस्म-रिवाज अलग है। अभी बाप को सब-कुछ दे 21 जन्म का वर्सा ले लिया। बस, फिर दान-पुण्य करने की दरकार नहीं। ईश्वर बाप को हम सब-कुछ दे देते हैं। ईश्वर ही स्वीकार करते हैं। स्वीकार न करें तो फिर देवे कैसे? न स्वीकार करें तो वह भी दुर्भाग्य। स्वीकार करना पड़ता है ताकि उनका ममत्व मिटे। यह भी राज़ तुम बच्चे जानते हो। जब जरूरत ही नहीं होगी तो स्वीकार क्या करेंगे? यहाँ तो कुछ इकट्ठा नहीं करना है। यहाँ से तो ममत्व मिटा देना पड़ता है।

बाबा ने समझाया है-बाहर कहाँ जाते हो तो अपने को बहुत हल्का समझो। हम बाप के बच्चे हैं, हम आत्मा रॉकेट से भी तीखी हैं। ऐसे देही-अभिमानी हो पैदल करेंगे तो कभी थकेंगे नहीं। देह का भान नहीं आयेगा। जैसेकि यह टांगे चलती नहीं। हम उड़ते जा रहे हैं। देही-अभिमानी हो तुम कहाँ भी जाओ। आगे तो मनुष्य तीर्थ आदि पर पैदल ही जाते थे। उस समय मनुष्यों की बुद्धि तमोप्रधान नहीं थी। बहुत श्रद्धा से जाते थे, थकते नहीं थे। बाबा को याद करने से मदद तो मिलेगी ना। भल वह पत्थर की मूर्ति है परन्तु बाबा उस समय अल्पकाल के लिए मनोकामना पूरी कर देते हैं। उस समय रजोप्रधान याद थी तो उससे भी बल मिलता था, थकावट नहीं होती थी। अभी तो बड़े आदमी झट थक जाते हैं। गरीब लोग बहुत तीर्थों पर जाते हैं। साहूकार लोग बड़े भभके से घोड़े आदि पर जायेंगे। वह गरीब तो पैदल चले जायेंगे। भावना का भाड़ा जितना गरीबों को मिलता है उतना साहूकारों को नहीं मिलता। इस समय भी तुम जानते हो-बाबा गरीब निवाज़ हैं फिर मूँझते क्यों हो? भूल क्यों जाते हो? बाबा कहते हैं तुमको कोई तकलीफ नहीं करनी है। सिर्फ एक साजन को याद करना है। तुम सभी सजनियाँ हो तो साजन को याद करना पड़े। उस साजन को भोग लगाने के बिना खाने में लज्जा नहीं आती? वह साजन भी है, बाप भी है। कहते हैं मुझे तुम नहीं खिलायेंगे! तुमको तो हमें खिलाना चाहिए ना! देखो, बाबा युक्तियाँ बतलाते हैं। तुम बाप अथवा साजन मानते हो ना। जो खिलाता है, पहले तो उनको खिलाना चाहिए। बाबा कहते हमको भोग लगाकर, हमारी याद में खाओ। इसमें बड़ी मेहनत है। बाबा बार-बार समझाते हैं, बाबा को याद जरूर करना है। बाबा खुद भी बार-बार पुरूषार्थ करते रहते हैं। तुम कुमारियों के लिए तो बहुत सहज है। तुम सीढ़ी चढ़ी ही नहीं हो। कन्या की तो साजन के साथ सगाई होती ही है। तो ऐसे साजन को याद कर भोजन खाना चाहिए। उनको हम याद करते हैं और वह हमारे पास आ जाते हैं। याद करेंगे तो भासना लेंगे। तो ऐसी-ऐसी बातें करनी चाहिए बाबा के साथ। तुम्हारी यह प्रैक्टिस होगी रात को जागने से। अभ्यास पड़ जायेगा तो फिर दिन में भी याद रहेगी। भोजन पर भी याद करना चाहिए। साजन के साथ तुम्हारी सगाई हुई है। तुम्हीं से खाऊं….. यह पक्का प्रण करना है। जब याद करेंगे तभी तो वह खायेंगे ना। उनको तो भासना ही मिलनी है क्योंकि उनको अपना शरीर तो नहीं है। कुमारियों के लिए तो बहुत सहज है, इनको जास्ती फैसल्टीज़ (सहूलियतें) हैं। शिवबाबा हमारा सलोना साजन कितना मीठा है। आधाकल्प हमने आपको याद किया है, अभी आप आकर मिले हो! हम जो खाते हैं, आप भी खाओ। ऐसे नहीं, एक बार याद किया बस, फिर तुम खुद खाते जाओ। उनको खिलाना भूल जाओ। उनको भूलने से उनको मिलेगा नहीं। चीज़ें तो बहुत खाते हो, खिचड़ी खायेंगे, आम खायेंगे, मिठाई खायेंगे….. ऐसे थोड़ेही शुरू में याद किया, खलास फिर और चीजें वह कैसे खायेंगे। साज़न नहीं खायेंगे तो माया बीच में खा जायेगी, उनको खाने नहीं देगी। हम देखते हैं माया खा जाती है तो वह बलवान बन जाती है और तुमको हराती रहती है। बाबा युक्तियाँ सब बतलाते हैं। बाबा को याद करो तो बाप अथवा साजन बहुत राज़ी होगा। कहते हो बाबा तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से खाऊं। हम आपको याद कर खाते हैं। ज्ञान से जानते हैं आप तो भासना ही लेंगे। यह तो लोन का शरीर है। याद करने से वह आते हैं। सारा मदार तुम्हारी याद पर है। इसको योग कहा जाता है। योग में मेहनत है। सन्यासी-उदासी ऐसे कभी नहीं कहेंगे। तुमको अगर पुरूषार्थ करना है तो बाबा की श्रीमत को नोट करो। पूरा पुरूषार्थ करो। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं-कहते हैं जैसे कर्म मैं करता हूँ, तुम भी करो। वही कर्म मैं तुमको सिखलाता हूँ। बाबा को तो कर्म नहीं करना है। सतयुग में कर्म कूटते नहीं। बाबा बहुत सहज बातें बताते हैं। तुम्हीं से बैठूँ, सुनूँ, तुम्हीं से खाऊं…… यह तुम्हारा ही गायन है। साजन के रूप में वा बाप के रूप में याद करो। गाया हुआ है ना-विचार सागर मंथन कर ज्ञान की प्वाइंट्स निकालते हैं। इस प्रैक्टिस से विकर्म भी विनाश होंगे, तन्दुरूस्त भी बनेंगे। जो पुरूषार्थ करेंगे उनको फ़ायदा होगा, जो नहीं करेंगे उनको नुकसान होगा। सारी दुनिया तो स्वर्ग का मालिक नहीं बनती है। यह भी हिसाब-किताब है।

बाबा बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। गीत तो सुना बरोबर हम यात्रा पर चल रहे हैं। यात्रा पर भोजन आदि तो खाना ही पड़ता है, सजनी साजन के साथ, बच्चा बाप के साथ खायेंगे। यहाँ भी ऐसे है। तुम्हारी साजन के साथ जितनी लगन होगी उतना खुशी का पारा चढ़ेगा। निश्चयबुद्धि विजयन्ती होते जायेंगे। योग माना दौड़ी। यह बुद्धियोग की दौड़ी है। हम स्टूडेन्ट हैं, टीचर हमको दौड़ना सिखलाते हैं। बाप कहते हैं ऐसे नहीं समझो कि दिन में सिर्फ कर्म ही करना है। कछुए मिसल कर्म कर फिर याद में बैठ जाओ। भ्रमरी सारा दिन भूँ-भूँ करती है। फिर कोई उड़ जाते, कोई मर जाते, वह तो एक दृष्टान्त है। यहाँ तुम भूं-भूं कर आप समान बनाते हो। उसमें कोई का तो बहुत लव रहता है। कोई सड़ जाते हैं, कोई अधूरे रह जाते हैं, भागन्ती हो जाते हैं फिर जाकर कीड़ा बनते हैं। तो यह भूँ-भूँ करना बहुत सहज है। मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार…। अभी हम योग लगा रहे हैं, देवता बनने का पुरूषार्थ कर रहे हैं। यही ज्ञान गीता में था। वह मनुष्य से देवता बनाकर गये थे। सतयुग में तो सब देवतायें थे। जरूर उन्हों को संगमयुग पर ही आकर देवता बनाया होगा। वहाँ तो देवता बनने का योग नहीं सिखलायेंगे। सतयुग आदि में देवी-देवता धर्म था और कलियुग अन्त में है आसुरी धर्म। यह बात सिर्फ गीता में ही लिखी हुई है। मनुष्य को देवता बनाने में देरी नहीं लगती है क्योंकि एम ऑब्जेक्ट बता देते हैं। वहाँ सारी दुनिया में एक धर्म होगा। दुनिया तो सारी होगी ना। ऐसे नहीं, चीन, यूरोप नहीं होंगे, होंगे परन्तु वहाँ मनुष्य नहीं होंगे। सिर्फ देवता धर्म वाले होंगे, और धर्म वाले होते नहीं। अभी है कलियुग। हम भगवान द्वारा मनुष्य से देवता बन रहे हैं। बाप कहते हैं तुम 21 जन्म सदा सुखी बनेंगे। इसमें तकलीफ की कोई बात ही नहीं। भक्ति मार्ग में भगवान के पास जाने के लिए कितनी मेहनत की है। कहते हैं पार निर्वाण गया। ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि भगवान के पास गया। कहेंगे स्वर्ग गया। एक के जाने से तो स्वर्ग नहीं बनेगा। सबको जाना है। गीता में लिखा हुआ है भगवान कालों का काल है। मच्छरों सदृश्य सभी को वापिस ले जाते हैं। बुद्धि भी कहती है चक्र रिपीट होना है। तो पहले-पहले जरूर सतयुगी देवी-देवता धर्म रिपीट होगा। फिर बाद में और धर्म रिपीट होंगे। बाबा कितना सहज बतलाते हैं-मन्मनाभव। बस। 5 हज़ार वर्ष पहले भी गीता के भगवान ने कहा था लाडले बच्चे। अगर कृष्ण कहेंगे तो दूसरे धर्म वाले कोई सुन न सकें। भगवान कहेंगे तो सभी को लगेगा-गॉड फादर हेविन स्थापन करते हैं जिसमें फिर हम जाकर चक्रवर्ती राजा बनेंगे। इसमें कोई खर्चे आदि की बात नहीं है सिर्फ सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानना है।

तुम बच्चों को विचार सागर मंथन करना है। कर्म करते दिन-रात ऐसे पुरूषार्थ करते रहो। विचार सागर मंथन नहीं करेंगे या बाप को याद नहीं करेंगे, सिर्फ कर्म करते रहेंगे तो रात को भी वही ख्यालात चलते रहेंगे। मकान बनाने वाले को मकान का ही ख्याल चलेगा। भल विचार सागर मंथन करने की रेसपॉन्सिबिलिटी इन पर है परन्तु कहते हैं कलष लक्ष्मी को दिया तो तुम लक्ष्मी बनती हो ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत को नोट कर पुरूषार्थ करना है। बाप ने जो कर्म करके सिखाया है, वही करने हैं। विचार सागर मंथन कर ज्ञान की प्वाइंट्स निकालनी हैं।

2- अपने आपसे प्रण करना है कि हम बाप की याद में ही भोजन खायेंगे। तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से खाऊं…… यह वायदा पक्का निभाना है।

वरदान:- अपने शुभ-चिंतन की शक्ति से आत्माओं को चिंता मुक्त बनाने वाली शुभचिंतक मणी भव
आज के विश्व में सब आत्मायें चिंतामणी हैं। उन चिंता मणियों को आप शुभचिंतक मणियां अपने शुभ-चिंतन की शक्ति द्वारा परिवर्तन कर सकते हो। जैसे सूर्य की किरणें दूर-दूर तक अंधकार को मिटाती हैं ऐसे आप शुभचिंतक मणियों की शुभ संकल्प रूपी चमक वा किरणें विश्व में चारों ओर फैल रही है, इसलिए समझते हैं कि कोई स्प्रीचुअल लाइट गुप्त रूप में अपना कार्य कर रही है। यह टचिंग अभी शुरू हुई है, आखरीन ढूंढते-ढूंढते स्थान पर पहुंच जायेंगे।
स्लोगन:- बापदादा के डायरेक्शन को क्लीयर कैच करने के लिए मन-बुद्धि की लाइन क्लीयर रखो।

TODAY MURLI 9 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 December 2018 :- Click Here

09/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/03/84

Only karmateet souls in the stage of retirement

are instruments for service at an intense speed.

Madhuban is the land of blessings, the powerful land, the land of elevated company, the land of easy transformation and the land that enables you to experience all attainments. Having come to such a land, do all of you experience yourselves to be full, that is, filled with everything? There is no lack of attainment of anything, is there? Have you imbibed for all time all the treasures that you have received? Do you think that when you return from here to your service places, you will become great donors and instruments to donate to everyone these powers and all attainments? Have you experienced yourselves to be destroyers of obstacles and embodiments of solutions for all time? Let alone your own problems, you also have to become the embodiments of solutions for those of other souls.

According to the time, you Brahmin souls have now gone beyond being influenced by problems. To be influenced by problems is a childhood stage. The childhood stage of Brahmin souls has now ended. In your youthful stage, with the method of becoming conquerors of Maya, you became mahavirs, you became ‘rulers of the globe’ in terms of your service, you became bestowers of blessings and great donors for many souls. You had many types of experience and became maharathis. You have now arrived at the point in time when you have to attain your karmateet stage of retirement. Only by having the karmateet stage of retirement will you be able to liberate all the souls of the world from the bondage of karma for half the cycle and send them to liberation. Only souls who are liberated can enable souls to receive their inheritance of liberation in a second from the Father. The majority of souls will come to you children who are karmateet, in the stage of retirement, great donors and bestowers of blessings and beg for liberation. For instance, people now go in front of your non-living images in the temples and pray for happiness and peace. Some go to pilgrimage places and pray for something. Some ask for something whilst sitting at home. Whatever is everyone’s capacity, that is how far they reach, but their attainment of fruit is according to their power. Some do this from their hearts whilst sitting at a distance, whereas others go in front of the idols at the pilgrimage places or in the temples and do this for show. They do it out of selfish motives. According to these accounts, as are their actions and their feelings, so will be the fruit they receive from them. Now, according to time, they will pray in front of you living idols who are great donors and bestowers of blessings. Some will go to the service places like temples. Some will reach the great pilgrimage place Madhuban and some will have visions whilst sitting at home and experience revelation through their divine intellects. Even though they don’t come here personally, they will pray with their love and determined thoughts. They will invoke you living angels into their minds and ask for a drop of the inheritance of liberation. In a short time, you will quickly have to carry out the task of enabling all souls to receive their inheritance. Just as the instruments for destruction have been refined and will thus be instruments to bring about completion at a fast speed, in the same way, you souls, who are bestowers of blessings and great donors, with your karmateet angelic forms and your completely powerful forms, will respond to the prayers of all souls and enable them to receive their inheritance of liberation. In order to carry out this task at a fast speed, are you ready as master almighty authorities, treasure-stores of all powers, treasure-stores of knowledge and embodiments of remembrance? The machinery of destruction and the machinery of blessings will work fast together at the same time.

.

You have to be ever ready over a long period of time from now. If those with an intense speed do not practise remaining karmateet and embodiments of solutions all the time, then, at the time when there is the need for intense speed, instead of being those who give, you will have to be those who simply observe. Only those who have been intense effort-makers over a long period of time will be able to become instruments for intense service. This is the lovely stage of retirement which is being free from all bondages, being detached and doing intense service with the Father. So, it is now the time to become those who give, not the time to be still those who take for themselves or for problems. The time when you were alwayscaught up in your own problems has now passed. Problems are also a creation of your own weaknesses. Any problem that comes from someone else or from certain circumstances is in fact the result of your own weakness. When there is some weakness, problems attack through some person or through circumstances. If there is no weakness, problems cannot attack. Problems that have come will make you experience being an embodiment of solutions instead of someone who experiences problems. That is the Mickey Mouse that has been created out of your own weakness. At the moment all of you are laughing, but what do you do when it comes? You yourself become a Mickey Mouse. Play with it; don’t be afraid of it. However, those are also games of childhood. Don’t create anything and don’t waste your time. Go beyond that stage and become those who are in the stage of retirement. Do you understand?

What is time telling you? What is the Father telling you? Do you enjoy playing with toys even now? What has the creation of people of the iron age become like? You hear this in the murli, do you not? They have become like scorpions and lizards. Therefore, this creation of weak problems also bites you like scorpions and lizards do and makes you powerless. Therefore, when all of you return from Madhuban having become full, have the determined thought of having finished all your own problems. However, you must not become a problem for anyone else either. You will always remain an embodiment of solutions for yourself and others. Do you understand?

You come here having incurred so much expense and with so much effort and so you will easily and constantly continue to receive the fruit of this effort with your determined thoughts. Just as you have had a determined thought for the main aspect of purity, that no matter what you have to tolerate or even if you have to die, you will remain firm in this promise. You consider it to be a sin if there is the slightest fluctuation in your dreams or thoughts. Similarly, to become an embodiment of a problem or to become influenced by a problem also goes into the account of sin. The definition and understanding of sin is: Where there is sin, there will be no remembrance of the Father; there will not be His company. Sin (pap) and Father (Bap) are like day and night. So, when you have problems, do you remember the Father at that time? You move away from Him, do you not? Then, when you get upset, you remember the Father, but you remember Him as a devotee, not as one who has a right. Give me power! Give me support! Take me across! You don’t remember Him as one who has all rights or in the form of your Companion or as an equal. So, do you understand what you now have to do? You now have to celebrate a completion ceremony. You will celebrate the completion ceremony of all problems, will you not? Or, will you just dance? You perform very good dramas. Now hold this function because a lot of time is needed for service. People there are calling out for you but you are fluctuating here. This is not good, is it? They are calling out to you bestowers of blessings and great donors and you are crying with an offmood. Therefore, how would you give them the fruit? Your hot tears will reach them too and they will continue to be afraid. Now, remember that you are the special, worthy-of-worship deities with Father Brahma. Achcha.

To those who have been intense effort-makers over a long period of time, to the children who are ever ready for intense service, to the children who are world transformers and so transformers of problems and embodiments of solutions, to the elevated souls who remain constantly merciful and loving and co-operative with devotee souls and Brahmin souls, to those who always remain beyond problems, to those who remain in the karmateet stage of retirement, to the children who are complete, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the New York group:

Do all of you experience yourselves to be the Father’s special souls? Do you always have the happiness that just as the Father is always elevated, so you children too are also elevated like the Father? By having this awareness, all your actions will automatically become elevated. As are your thoughts, so will be your actions. So you are special souls who, with your constant awareness, remain stable in an elevated stage. Constantly continue to celebrate the happiness of this elevated birth. You will not have such an elevated birth, in which you become a child of God, throughout the whole cycle. In 5000 years, it is only at this time that you have this alokik birth. You will go into the family of souls even in the golden age, but it is at this time that you are the children of the Supreme Soul. Therefore, always remember this speciality. Always remember that you are a Brahmin from an elevated family with an elevated religion and elevated actions. Continue to move forward in this awareness at every step. Let the speed of your efforts be constantly intense. The flying stage will constantly make you a conqueror of Maya and free from bondages. Since you have made the Father belong to you, what else remains? There is just the One that remains. Everything is merged in just the One. By staying in remembrance of the One and remaining stable in a constant stage, you will continue to experience peace, power and happiness. Where there is the One, you will have the first number. So, all of you are number one, are you not? Is it easy to remember One or many? The Father makes you practise just this and nothing else. Is it easy to pick up ten things or just one? So, it is very easy for your intellect to imbibe the remembrance of One. The aim of all of you is very good. Since the aim is good, you will continue to develop good qualifications. Achcha.

Avyakt Elevated Versions – Control the Power of Thought

According to the time and the situation, with your power of coolness, adjust the speed of your thoughts and words and make them cool and patient. If the speed of your thoughts is too fast, you waste a lot of time and cannot control them. Therefore, imbibe the power of coolness and save yourself from wastefulness and accidents. You will then be liberated from the fast speed of waste and of asking “Why? What? It should not be like this”, etc. Sometimes, some children play big games. Waste thoughts come with so much force that they are unable to control themselves. Afterwards, they say “What can I do? It just happened!” They cannot stop themselves. They do whatever they want. However, you must gain power to control that waste. Just as you receive the fruit of multi-millions for one powerful thought, in the same way the fruit of one wasteful thought is sadness, disheartenment and the loss of your happiness. You experience just as much return of one. Hold your own daily court and ask all your workers, your senses, how they are doing. Whatever subtle powers you have, whether they are ministers or senior ministers, make them function according to your orders. If, from now, your royal court functions accurately you will have no need to go to the court of Dharamraj. Dharamraj will also welcome you. However, if you have no controlling power now, you will have to go to the land of Dharamraj to pay your fine at the end. The fine will be the punishment. Become refined and you will not be fined.

The present is a mirror of the future. Through the present stage of your mirror, you can very clearly see your own future. In order to have all rights to your future kingdom, check and see to what extent you have ruling power over yourself. You need to have full rights over your subtle powers, your mind, your intellect and your sanskars. These powers are your special workers. These three special powers, your royal workers, are your main co-operative workers. When these three workers work on a signal that you, the soul, the king, the one with a right to the kingdom, give them, then your kingdom will constantly function correctly. A king doesn’t do a task himself but gets it done by others. The one who does it is a servant of the king. If the king’s servants do not serve him properly, then the kingdom starts to shake. You, the soul, gets things done; it is the special trimurti powers that do the work. First of all, you have to have ruling power over them. Your physical senses will then naturally move along accordingly on the right path. Just as it is said of the golden-aged kingdom that there is one kingdom and one religion, in the same way, in your own kingdom, there now has to be one king. That is, let everything function according to your directions. Your mind should not function according to its own directions; your intellect’s power of discernment should not fluctuate; your sanskars should not make you, the soul, dance. It can then be said that you have one religion, one kingdom. Imbibe such controlling power.

In order to pass with honour s and claim all rights to the kingdom, you need to have total control over the subtle power of your mind. Your mind must do everything according to your orders. Whatever you think should be on your orders. If you say, “Stop!” it should stop. If you say, “Think about service!” it should become engaged in service. If you say, “Think about Paramdham!”, you should reach Paramdham. Now, increase such controlling power. Do not waste time battling over trivial matters. Imbibe controlling power and you will come close to your karmateet stage. When all thoughts become peaceful and you just have the one thought of experiencing meeting the one Father-just the Father and you – it is called powerful yoga. For this, you need the power to merge and the power to pack up. When you say, “Stop!” your thoughts must stop. You have to be able to apply a strong brake, not a weak one. You should have a powerful brake and powerful control. If it takes longer than a second, your power to merge is weak. At the end, there will be the one test in your final paper: Put a fullstop in a second! You will be given a number on the basis of this. If it takes longer than a second, you fail. There has to be just the one Father and yourself. There must not be any third person in between you. It mustn’t be: “I should do this. I should see this. Why does this happen? What happened?” If any such thoughts come, you fail. If you create a queue of, “Why?” or “What?”, it will then take a long time to stop that queue. Once you create your creation, you have to sustain it. You cannot be released from having to sustain it. You will have to give time and energy to it. Therefore, exercise birth control over any wasteful creation.

Those who can handle their own subtle powers are also able to handle others. Once you have controlling power and ruling power over yourself, you will have the accurate power to handle everyone. Whether it is serving souls without knowledge or interacting with Brahmin souls with love and contentment, you will be successful in both.

Blessing: May you be filled with the newness and speciality of combining your thoughts and words and thereby perform magic.
The combination of thoughts and words works like magic. By doing this, all the trivial matters of a gathering will finish in such a way that you will think it is magic. When your mind is busy having pure feelings and pure blessings for everyone, any upheaval in the mind will finish and you will never be disappointed in your efforts. You will never be afraid in a gathering. By doing the combined service of your thoughts and words, you will see the impact of such service at a fast speed. Now, become full of this newness and speciality in service and the 900,000 subjects will easily become ready.
Slogan: Your intellect will make accurate decisions when you become completely viceless.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 December 2018

To Read Murli 8 December 2018 :- Click Here
09-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-03-84 मधुबन

कर्मातीत, वनाप्रस्थी आत्मायें ही तीव्रगति की सेवा के निमित्त

मधुबन वरदान भूमि, समर्थ भूमि, श्रेष्ठ संग की भूमि, सहज परिवर्तन भूमि, सर्व प्राप्तियों के अनुभव कराने वाली भूमि है। ऐसी भूमि पर आकर सभी स्वयं को सम्पन्न अर्थात् सब बातों से भरपूर अनुभव करते हो? कोई अप्राप्ति तो नहीं है? जो सर्व खजाने मिले हैं उन्हों को सदाकाल के लिए धारण किया है? ऐसे समझते हो कि यहाँ से सेवा स्थान पर जाकर महादानी बन यही शक्तियाँ, सर्व प्राप्तियाँ सर्व को देने के निमित्त बनेंगे? सदा के लिए स्वयं को विघ्न-विनाशक, समाधान स्वरूप अनुभव किया है? स्व की समस्या तो अलग रही लेकिन अन्य आत्माओं के समस्याओं का भी समाधान स्वरूप।

समय के प्रमाण अब ब्राह्मण आत्मायें समस्याओं के वश हो जाएं, इससे अभी पार हो गये। समस्याओं के वश होना – यह बाल अवस्था है। अब ब्राह्मण आत्माओं की बाल अवस्था का समय समाप्त हो चुका। युवा अवस्था में मायाजीत बनने की विधि से महावीर बने, सेवा में चक्रवर्ती बने, अनेक आत्माओं के वरदानी महादानी बने, अनेक प्रकार के अनुभव कर महारथी बने, अब कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति में जाने का समय पहुँच गया है। कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति द्वारा ही विश्व की सर्व आत्माओं को आधाकल्प के लिए कर्म बन्धनों से मुक्त कराए मुक्ति में भेजेंगे। मुक्त आत्मायें ही सेकण्ड में मुक्ति का वर्सा बाप से दिला सकती हैं। मैजारिटी आत्मायें मुक्ति की भीख मांगने के लिए आप कर्मातीत वानप्रस्थ महादानी वरदानी बच्चों के पास आयेंगी। जैसे अभी आपके जड़ चित्रों के आगे, कोई मन्दिरों में जाकर प्रार्थना कर सुख शान्ति मांगते हैं। कोई तीर्थ स्थानों पर जाकर मांगते हैं। कोई घर बैठे मांगते हैं। जिसकी जहाँ तक शक्ति होती वहाँ तक पहुँचते हैं, लेकिन यथाशक्ति, यथाफल की प्राप्ति करते हैं। कोई दूरे बैठे भी दिल से करते हैं और कोई मूर्ति के सामने तीर्थ स्थान वा मन्दिरों में जाकर भी दिखावे मात्र करते हैं। स्वार्थ वश करते हैं। उन सब हिसाब अनुसार जैसा कर्म, जैसी भावना वैसा फल मिलता है। ऐसे अब समय प्रमाण आप चैतन्य महादानी वरदानी मूर्तियों के आगे प्रार्थना करेंगे। कोई सेवा स्थान रूपी मन्दिरों में पहुँचेंगे। कोई महान तीर्थ मधुबन तक पहुँचेंगे और कोई घर बैठे साक्षात्कार करते दिव्य बुद्धि द्वारा प्रत्यक्षता का अनुभव करेंगे। सम्मुख न आते भी स्नेह और दृढ़ संकल्प से प्रार्थना करेंगे। मन्सा में आप चैतन्य फरिश्तों का आह्वान कर मुक्ति के वर्से की अंचली मांगेंगे। थोड़े समय में सर्व आत्माओं को वर्सा दिलाने का कार्य तीव्रगति से करना होगा। जैसे विनाश के साधन रिफाइन होने के कारण तीव्रगति से समाप्ति के निमित्त बनेंगे, ऐसे आप वरदानी महादानी आत्मायें, अपने कर्मातीत फरिश्ते स्वरूप के सम्पूर्ण शक्तिशाली स्वरूप द्वारा, सर्व की प्रार्थना का रेसपान्ड मुक्ति का वर्सा दिलायेगी। तीव्रगति के इस कार्य के लिए मास्टर सर्व शक्तिवान, शक्तियों के भण्डार, ज्ञान के भण्डार, याद स्वरूप तैयार हो? विनाश की मिशनरी और वरदान की मशीनरी दोनों तीव्रगति से साथ-साथ चलेंगी।

बहुतकाल से अर्थात् अब से भी एवररेडी। तीव्र-गति वाले कर्मातीत, समाधान स्वरूप सदा रहने का अभ्यास नहीं करेंगे तो तीव्रगति के समय देने वाले बनने के बजाए देखने वाले बनना पड़े। तीव्र पुरुषार्थी बहुत काल वाले तीव्र-गति की सेवा निमित्त बन सकेंगे। यह है वानप्रस्थ अर्थात् सर्व बन्धन-मुक्त, न्यारे और बाप के साथ-साथ तीव्रगति के सेवा की प्यारी अवस्था। तो अब देने वाले बनने का समय है, ना कि अब भी स्वयं प्रति, समस्याओं प्रति लेने वाले बनने का समय है। स्व की समस्याओं में उलझना – अब वह समय गया। समस्या भी एक अपनी कमजोरी की रचना है। कोई द्वारा वा कोई सरकमस्टांस द्वारा आई हुई समस्या वास्तव में अपनी कमजोरी का ही कारण है। जहाँ कमजोरी है वहाँ व्यक्ति द्वारा वा सरकमस्टांस द्वारा समस्या वार करती है। अगर कमजोरी नहीं तो समस्या का वार नहीं। आई हुई समस्या, समस्या के बजाए समाधान रूप में अनुभवी बनायेगी। यह अपनी कमजोरी के उत्पन्न हुए मिक्की माउस हैं। अभी तो सब हॅस रहे हैं और जिस समय आती है उस समय क्या करते हैं? खुद भी मिक्की माउस बन जाते हैं। इससे खेलो न कि घबराओ। लेकिन यह भी बचपन का खेल है। न रचना करो, न समय गंवाओ। इससे परे स्थिति में वानप्रस्थी बन जाओ। समझा!

समय क्या कहता? बाप क्या कहता? अब भी खिलौनों से खेलना अच्छा लगता है क्या? जैसे कलियुग की मानव रचना भी क्या बन गई है? मुरली में सुनते हो ना। बिच्छु-टिण्डन हो गये हैं। तो यह कमजोर समस्याओं की रचना भी बिच्छू टिण्डन के समान स्वयं को काटती है, शक्तिहीन बना देती है। इसलिए सभी मधुबन से सम्पन्न बन यह दृढ़ संकल्प करके जाना कि अब से स्वयं की समस्या को तो समाप्त किया लेकिन और किसके लिए भी समस्या स्वरूप नहीं बनेंगे। स्व प्रति, सर्व के प्रति सदा समाधान स्वरूप रहेंगे। समझा!

इतना खर्चा करके मेहनत करके आते हो तो मेहनत का फल इस दृढ़ संकल्प द्वारा सहज सदा मिलता रहेगा। जैसे मुख्य बात पवित्रता के लिए दृढ़ संकल्प किया है ना कि मर जायेंगे, सहन करेंगे लेकिन इस व्रत को कायम रखेंगे। स्वप्न में वा संकल्प में भी अगर ज़रा भी हलचल होती है तो पाप समझते हो ना। ऐसे समस्या स्वरूप बनना या समस्या के वश हो जाना – यह भी पाप का खाता है। पाप की परिभाषा है, पहचान है, जहाँ पाप होगा वहाँ बाप याद नहीं होगा, साथ नहीं होगा। पाप और बाप, दिन और रात जैसे हैं। तो जब समस्या आती है उस समय बाप याद आता है? किनारा हो जाता है ना? फिर जब परेशान होते हो तब बाप याद आता है। और वह भी भक्त के रूप में याद करते हो, अधिकारी के रूप में नहीं। शक्ति दे दो, सहारा दे दो। पार लगा दो। अधिकारी के रूप में, साथी के रूप में, समान बनकर याद नहीं करते हो। तो समझा, अब कया करना है। समाप्ति समारोह मनाना है ना। समस्याओं का समाप्ति समारोह मनायेंगे ना! या सिर्फ डान्स करेंगे? अच्छे-अच्छे ड्रामा करते हो ना! अभी यह फंक्शन करना क्योंकि अभी सेवा में समय बहुत चाहिए। वहाँ पुकार रहे हैं और यहाँ हिल रहे हैं, यह तो अच्छा नहीं है ना! वह वरदानी, महादानी कह याद कर रहे हैं और आप मूड आफ में रो रहे हैं तो फल कैसे देंगे! उनके पास भी आपके गर्म आंसू पहुँच जायेंगे। वह भी घबराते रहेंगे। अभी याद रखो कि हम ब्रह्मा बाप के साथ-इष्ट देव पूज्य आत्मायें हैं। अच्छा!

सदा बहुतकाल के तीव्र पुरुषार्थी, तीव्रगति की सेवा के एवररेडी बच्चों को सदा विश्व परिवर्तन सो समस्या परिवर्तक, समाधान स्वरूप बच्चों को, सदा रहमदिल बन भक्त आत्माओं और ब्राह्मण आत्माओं के स्नेही और सहयोगी रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें, सदा समस्याओं से परे रहने वाले, कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति में रहने वाले सम्पन्न स्वरूप बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

न्यूयार्क पार्टी से:- सभी अपने को बाप की विशेष आत्मायें अनुभव करते हो? सदा यही खुशी रहती है कि जैसे बाप सदा श्रेष्ठ है वैसे हम बच्चे भी बाप समान श्रेष्ठ हैं? इसी स्मृति से सदा हर कर्म स्वत: ही श्रेष्ठ हो जायेगा। जैसा संकल्प होगा वैसे कर्म होंगे। तो सदा स्मृति द्वारा श्रेष्ठ स्थिति में स्थित रहने वाली विशेष आत्मायें हो। सदा अपने इस श्रेष्ठ जन्म की खुशियां मनाते रहो। ऐसा श्रेष्ठ जन्म जो भगवान के बच्चे बन जायें – ऐसा सारे कल्प में नहीं होता। पांच हजार वर्ष के अन्दर सिर्फ इस समय यह अलौकिक जन्म होता है। सतयुग में भी आत्माओं के परिवार में आयेंगे लेकिन अब परमात्म सन्तान हो। तो इसी विशेषता को सदा याद रखो। सदा मैं ब्राह्मण ऊंचे ते ऊंचे धर्म, कर्म और परिवार का हूँ। इसी स्मृति द्वारा हर कदम में आगे बढ़ते चलो। पुरुषार्थ की गति सदा तेज हो। उड़ती कला सदा ही मायाजीत और निर्बन्धन बना देगी। जब बाप को अपना बना दिया तो और रहा ही क्या। एक ही रह गया ना। एक में ही सब समाया हुआ है। एक की याद में, एकरस स्थिति में स्थित होने से शान्ति, शक्ति और सुख की अनुभूति होती रहेगी। जहाँ एक है वहाँ एक नम्बर है। तो सभी नम्बरवन हो ना! एक को याद करना सहज है या बहुतों को? बाप सिर्फ यही अभ्यास कराते हैं और कुछ नहीं। दस चीज़ें उठाना सहज है या एक चीज़ उठाना सहज है? तो बुद्धि द्वारा एक की याद धारण करना बहुत सहज है। लक्ष्य सबका बहुत अच्छा है। लक्ष्य अच्छा है तो लक्षण अच्छे होते ही जायेंगे। अच्छा!

अव्यक्त महावाक्य – संकल्प शक्ति को कन्ट्रोल करो

समय प्रमाण शीतलता की शक्ति द्वारा हर परिस्थिति में अपने संकल्पों की गति को, बोल को शीतल और धैर्यवत बनाओ। यदि संकल्प की स्पीड फास्ट होगी तो बहुत समय व्यर्थ जायेगा, कन्ट्रोल नहीं कर सकेंगे इसलिए शीतलता की शक्ति धारण कर लो तो व्यर्थ से वा एक्सीडेंट से बच जायेंगे। यह क्यों, क्या, ऐसा नहीं वैसा, इस व्यर्थ की फास्ट गति से छूट जायेंगे। कोई-कोई बच्चे कभी-कभी बड़ा खेल दिखाते हैं। व्यर्थ संकल्प इतना फोर्स से आते जो कन्ट्रोल नहीं कर पाते। फिर उस समय कहते क्या करें हो गया ना! रोक नहीं सकते। जो आया वह कर लिया लेकिन व्यर्थ के लिए कन्ट्रोलिंग पावर चाहिए। जैसे एक समर्थ संकल्प का फल पदमगुणा मिलता है। ऐसे ही एक व्यर्थ संकल्प का हिसाब-किताब – उदास होना, दिलशिकस्त होना वा खुशी गायब होना-यह भी एक का बहुत गुणा के हिसाब से अनुभव होता है। रोज़ अपनी दरबार लगाओ और अपने सभी कार्यकर्ता कर्मचारियों से हालचाल पूछो। आपकी जो सूक्ष्म शक्तियां मंत्री वा महामंत्री हैं, उन्हें अपने आर्डर प्रमाण चलाओ। यदि अभी से राज्य दरबार ठीक होगा तो धर्मराज की दरबार में नहीं जायेगे। धर्मराज भी स्वागत करेगा। लेकिन यदि कन्ट्रोलिंग पावर नहीं होगी तो फाइनल रिज़ल्ट में फाइन भरने के लिए धर्मराज पुरी में जाना पड़ेगा। यह सजायें फाइन हैं। रिफाइन बन जाओ तो फाइन नहीं भरना पड़ेगा।

वर्तमान, भविष्य का दर्पण है। वर्तमान की स्टेज अर्थात् दर्पण द्वारा अपना भविष्य स्पष्ट देख सकते हो। भविष्य राज्यअधिकारी बनने के लिए चेक करो कि वर्तमान मेरे में रूलिंग पावर कहाँ तक है? पहले सूक्ष्म शक्तियाँ, जो विशेष कार्यकर्ता हैं – संकल्प शक्ति के ऊपर, बुद्धि के ऊपर और संस्कारों के ऊपर पूरा अधिकार हो। यह विशेष तीन शक्तियाँ राज्य की कारोबार चलाने वाले मुख्य सहयोगी कार्यकर्ता हैं। अगर यह तीनों कार्यकर्ता आप आत्मा अर्थात् राज्य-अधिकारी राजा के इशारे पर चलते हैं तो सदा वह राज्य यथार्थ रीति से चलेगा। जैसे राजा स्वयं कोई कार्य नहीं करता, कराता है। करने वाले राज्य कारोबारी अलग होते हैं। अगर राज्य कारोबारी ठीक नहीं होते तो राज्य डगमग हो जाता है। ऐसे आत्मा भी करावनहार है, करनहार ये विशेष त्रिमूर्ति शक्तियाँ हैं। पहले इनके ऊपर रूलिंग पावर हो तो यह साकार कर्मेन्द्रियाँ उनके आधार पर स्वत: ही सही रास्ते पर चलेंगी। जैसे सतयुगी सृष्टि के लिए कहते हैं एक राज्य एक धर्म है। ऐसे ही अब स्वराज्य में भी एक राज्य अर्थात् स्व के इशारे पर सर्व चलने वाले हों। मन अपनी मनमत पर न चलावे, बुद्धि अपनी निर्णय शक्ति की हलचल न करे। संस्कार आत्मा को नाच नचाने वाले न हो तब कहेंगे एक धर्म, एक राज्य। तो ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर धारण करो।

पास विद आनर बनने अथवा राज्य अधिकारी बनने के लिए मन जो सूक्ष्म शक्ति है वह कन्ट्रोल में हो अर्थात् आर्डर प्रमाण कार्य करे। जो सोचो वह आर्डर में हो। स्टॉप कहो तो स्टॉप हो जाए, सेवा का सोचो तो सेवा में लग जाए। परमधाम का सोचो तो परमधाम में पहुंच जाए। ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर अभी बढ़ाओ। छोटे-छोटे संस्कारों में, युद्ध में समय नहीं गंवाओ। कन्ट्रोंलिग पावर धारण कर लो तो कर्मातीत अवस्था के समीप पहुंच जायेंगे। जब और सब संकल्प शान्त हो जाते हैं, बस एक बाप और आप – इस मिलन की अनुभूति का संकल्प रहता है तब पावरफुल योग कहा जाता है। इसके लिए समाने वा समेटने की शक्ति चाहिए। स्टॉप कहते ही संकल्प स्टॉप हो जाएं। फुल ब्रेक लगे, ढीली नहीं। पावरफुल ब्रेक हो। कन्ट्रोलिंग पावर हो। अगर एक सेकण्ड के सिवाए ज्यादा समय लग जाता है तो समाने की शक्ति कमजोर है। लास्ट में फाइनल पेपर का क्वेश्चन होगा-सेकण्ड में फुल स्टॉप, इसी में ही नम्बर मिलेंगे। सेकेण्ड से ज्यादा हो गया तो फेल हो जायेंगे। एक बाप और मैं, तीसरी कोई बात न आये। ऐसे नहीं यह कर लूं, यह देख लूं…यह हुआ, नहीं हुआ। यह क्यों हुआ, यह क्या हुआ-कोई भी बात आई तो फेल। कोई भी बात में क्यों, क्या की क्यू लगा दी तो उस क्यू को समाप्त करने में बहुत समय जायेगा। जब रचना रच ली तो पालना करनी पड़ेगी, पालना से बच नहीं सकते। समय, एनर्जी देनी ही पड़ेगी, इसलिए इस व्यर्थ रचना का बर्थ कन्ट्रोल करो।

जो अपनी सूक्ष्म शक्तियों को हैंडिल कर सकता है, वह दूसरों को भी हैंडिल कर सकता है। तो स्व के ऊपर कन्ट्रोलिंग पावर, रूलिंग पावर सर्व के लिए यथार्थ हैंडलिंग पावर बन जाती है। चाहे अज्ञानी आत्माओं को सेवा द्वारा हैंडिल करो, चाहे ब्राह्मण-परिवार में स्नेह सम्पन्न, सन्तुष्टता सम्पन्न व्यवहार करो – दोनों में सफल हो जायेंगे।

वरदान:- मन्सा और वाचा के मेल द्वारा जादूमंत्र करने वाले नवीनता और विशेषता सम्पन्न भव 
मन्सा और वाचा दोनों का मिलन जादूमंत्र का काम करता है, इससे संगठन की छोटी-छोटी बातें ऐसे समाप्त हो जायेंगी जो आप सोचेंगे कि यह तो जादू हो गया। मन्सा शुभ भावना वा शुभ दुआयें देने में बिजी हो तो मन की हलचल समाप्त हो जायेगी, पुरुषार्थ से कभी दिलशिकस्त नहीं होंगे। संगठन में कभी घबरायेंगे नहीं। मन्सा-वाचा की सम्मिलित सेवा से विहंग मार्ग की सेवा का प्रभाव देखेंगे। अब सेवा में इसी नवीनता और विशेषता से सम्पन्न बनो तो 9 लाख प्रजा सहज तैयार हो जायेगी।
स्लोगन:- बुद्धि यथार्थ निर्णय तब देगी जब पूरे-पूरे वाइसलेस बनेंगे।
Font Resize