daily murli 8 october

TODAY MURLI 8 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 October 2020

08/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come with a great deal of interest to teach you. You should also study with that interest. Have the intoxication that God, Himself, is teaching you.
Question: What are the aim and good wishes of you Brahma Kumars and Kumaris?
Answer: Your aim is to establish the kingdom of happiness and peace in the world once again by following shrimat exactly as you did 5000 years ago in the previous cycle. Your good wishes are that the whole world will be granted salvation by following shrimat. You say with intoxication: We will grant salvation to everyone. You receive a peace prize from the Father. To change from residents of hell into residents of heaven means to claim a prize.

Om shanti. When students study, they do so in happiness. Their teacher also teaches them with a lot of happiness and interest. You spiritual children know that the unlimited Father, who is also the Teacher, is teaching us with a lot of interest. In other studies, your father is separate from the teacher who teaches you. Some children’s father is also their teacher who teaches them. Therefore, he teaches them with a lot of interest, because there is also that blood connection. He knows that that child belongs to him and he therefore teaches him with a lot of interest. This Father would also be teaching you with so much interest. Therefore, you children should also study with very much interest. The Father is teaching you directly. He only comes once to teach you. You children should have a lot of interest because Baba, God, is teaching you. He explains everything very clearly. While studying, some children wonder what this is all about. This is the cycle of coming and going in the drama, but they wonder: Why was this play created? What benefit is there in it? Will we just continue to go around the cycle all the time? In that case, it would be better to be liberated from this cycle. When they see that they have to continue to go around this cycle of 84 births, they have such thoughts as: Why did God create such a play that no one can be liberated from the cycle of coming and going? It would be better to receive eternal liberation (moksh). Many children have such thoughts; they want to be liberated from this coming and going, from happiness and sorrow. The Father says: This can never happen. It is useless to try to attain eternal liberation. The Father has explained that not a single soul can be liberated from his part. An imperishable part is recorded in each soul. Souls are eternal and imperishable; the actors are absolutely accurate. There cannot be even one soul more or one soul less. You children have all the knowledge. No one can be liberated from playing his part in this drama, nor can anyone attain eternal liberation. Those of all religions have to come down, numberwise. The Father explains: This is a predestined and eternal drama. You say: Baba, we now know how we go around the cycle of 84 births. You also understand that those who come first must take 84 births. Those who come later would surely take fewer births. Here, you have to make effort. The old world is definitely going to become new again. Because new children continue to come, Baba has to explain everything to you over and over again. Who would teach them the previous lessons? Therefore, when the Father sees new children, He repeats the old points. All the knowledge is in your intellects. You know how you have been playing your parts from the beginning. You know accurately how you come down, numberwise, and how many births you take. The Father comes at this time to tell you things of knowledge. In the golden age you have the reward. It is only at this time that this is explained to you. The term “Manmanabhav” is written at the beginning and at the end of the Gita. You are being educated so that you can claim a status. You are now making effort to become kings. It has been explained how those of other religions also come down, numberwise. Everyone has to follow the founder of his religion. There is no question of a kingdom. It is just the scripture, the Gita, that has been praised a great deal. It is in Bharat that the Father comes and speaks it and grants everyone salvation. After the founders of religions have died, huge pilgrimage places are built to them. In fact, Bharat, where the unlimited Father comes, is everyone’s pilgrimage place. The Father entered Bharat and granted everyone salvation. He says: You call Me the Liberator and the Guide, do you not? I will liberate you from this old world of sorrow and take you to the land of peace and the land of happiness. You children know that Baba will take us to the land of peace and the land of happiness and that everyone else will go to the land of peace. The Father comes and liberates you from sorrow. Neither does He take birth nor does He die. The Father has come and He will then leave again. You wouldn’t say of Him that He has died, or that he left his body as you would of Shivananda. People carry out the final rites on the departure of a soul. No rites or ceremonies etc. have to be performed when this Father leaves. You can’t even tell when He comes. There is no question of final rites etc. being performed. The final rites of all human beings are performed, but there are no rites performed for the Father because He doesn’t have a body. In the golden age, there is no mention of spiritual knowledge or worship. It is only at this time that such things exist. Everyone else only teaches devotion at this time. For half the cycle, there is devotion, and then, at the end of the cycle, the Father comes and gives you your inheritance of knowledge. This knowledge will not go there with you. There is no need to remember the Father there because you are in liberation. Would you have to remember Him there? There are no complaints about sorrow there. Devotion is at first unadulterated and then it becomes adulterated. At this time, devotion is extremely adulterated. This is called the extreme depths of hell; it is total hell. The Father has now come to make it into total heaven. At this time there is 100% sorrow. Then, there will be 100% peace and happiness. Souls will go and rest in their home. It is very easy to explain this. The Father says: I only come when there has to be establishment of the new world and destruction of the old world. It wouldn’t be just One who carries out such a task; many helpers are also required. It is at this time that you children become the Father’s helpers. You are doing true service of Bharat in particular. The true Father is teaching you true service. You benefit yourselves, Bharat and the whole world. Therefore, you should be doing this with a great deal of interest. Baba grants everyone salvation with so much interest. Everyone now definitely still has to receive salvation. This is pure pride, good wishes. You are doing true service, but in an incognito way. A soul does everything through a body. Many people ask you what the aim of the Brahma Kumaris is. Tell them: The aim of the Brahma Kumaris is to establish the golden-aged self-sovereignty of peace and happiness throughout the whole world. Every 5000 years we establish peace in the world by following shrimat and claim the world peace prize. The king, the queen and the subjects all claim this prize. To become a resident of heaven from a resident of hell is no small prize. Those people become very happy when they receive a peace prize, but they don’t really receive anything. It is we who claim the true prize of world sovereignty from the Father at this time. They say that Bharat is their elevated land. They praise Bharat so much. They all believe that they are the masters of Bharat. However, they are not the masters. You children are now establishing the kingdom by following Baba’s shrimat. You don’t have any weapons etc. You imbibe divine virtues, and this is why you are remembered and worshipped. Look how much Amba is worshipped! However, who is Amba? They don’t even know if she is a Brahmin or a deity. There are many names such as Amba, Kali, Durga, Saraswati etc. Here, too, there is a small temple to Amba. They show Amba with many arms, but she is not like that. That is called blind faith. When Christ and Buddha etc. came, they established their own religions. Their times and dates are all known. There, there is no question of blind faith. Here, the people of Bharat don’t know anything: who established their religion or when it was established. This is why it is said to be blind faith. You are now worshippers and you will then become worthy of worship. When you souls are worthy of worship, your bodies too become likewise. You are worshipped in the form of souls, and then, because you became deities, you are also worshipped in those forms. The Father is always incorporeal and He is therefore always worthy of worship. He never becomes a worshipper. It is of you children that it is said: You are worthy of worship and you are also worshippers. The Father is everworthy of worship. The Father comes here and does the true service of granting everyone salvation. The Father says: Now constantly remember Me alone. Don’t remember any bodily beings. Many millionaires and billionaires cry out the name of Allah. There is so much blind faith. The Father has also explained to you the meaning of “Hum so” (I am that which I was). They say: Shivohum (I, a soul, am the Supreme Soul). The Father has now told you what is correct. Therefore, now judge for yourself whether the things you have heard on the path of devotion are right or whether the things Baba is telling you are right. Their explanation of “Hum so” is very long and complicated. We are Brahmins and we then become deities, warriors… So which meaning of “hum so” is right? This is how I, a soul, go around the cycle. There is also the picture of the variety-form image. They have neither shown the Brahmins, the topknot, in this picture, nor even shown the Father. Where do deities come from? How were they created? In the iron age, there is the shudra clan. Therefore, how could the deity clan suddenly come into existence in the golden age? They don’t understand anything. People are trapped so much on the path of devotion. Someone studied the Granth and had the thought of building a temple. Therefore, he did that and just sat there and related the Granth. Many people go there and many become followers, but there is no benefit in that. Many shops have emerged. All of those shops will now be destroyed. All of that business exists on the path of devotion and they earn plenty of money through that. Sannyasis say that they are brahm yogis, (yogis who have yoga with the brahm element). Just as the people of Bharat originally belong to the deity religion, but say that they belong to the Hindu religion, in the same way, brahm is the element of light where souls reside, but sannyasis have then given themselves the name: “The ones who have knowledge of the brahm element”. However, the brahm element is the place of residence for souls. Therefore, the Father explains how they have made such a huge mistake. All of this is their illusion. I have come to remove all of their illusions. On the path of devotion, they say: O God, Your ways and means of granting liberation and giving directions are completely unique! No one else can grant liberation. However, you receive directions from so many. The directions you receive here perform such a great wonder. These directions completely change the whole world. The intellects of you children now understand how so many religions come into existence. Later, souls will go and reside in their own sections. All of this is fixed in the drama. You children also know that only the one Father is the Bestower of divine vision. Someone said to Baba: Give me the key to divine vision so that I can grant a vision to someone. Baba replied: No. No one can be given this key. Instead of that, I grant you world sovereignty. I don’t receive that. The part of granting visions is My part alone. When someone has a vision, he becomes so happy, even though he doesn’t receive anything. It isn’t that, when someone has a vision he becomes free from disease or that he becomes rich; no. Meera had a vision, but she didn’t attain liberation. People think that she used to reside in Vaikunth, but where is Vaikunth, the land of Krishna? All of those things are just visions. The Father sits here and explains everything. At first, this one had visions of Vishnu, and he became very happy. He saw that he was going to become an emperor and he also had a vision of destruction and then a vision of his kingdom. So the faith that he was going to become the master of the world was instilled in him. Then, Baba entered him. “Ok Baba, You take all of this. I just want the kingdom of the world.” You too have come here to make this bargain, have you not? Those who take knowledge will stop doing devotion. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe divine virtues and do true service of Bharat by following shrimat. Bring benefit to yourself, to Bharat and to the world with a lot of interest.
  2. Accurately understand the eternal and imperishable, predestined drama and don’t make any effort that would waste your time. Don’t even have wasteful thoughts.
Blessing: May you make your stage constant and stable by practising concentration and stability and become an embodiment of total success.
When you have concentration, you will automatically have a constant and stable stage. With concentration, all wasteful thoughts, words and deeds finish and everything is filled with power. Concentration means to remain stable in one elevated thought, in which the expansion of the whole tree is merged. Increase concentration and all types of upheaval will finish. All thoughts, words and deeds will easily be successful. For this, be one who stays in solitude.
Slogan: Repeatedly to think about a mistake you have made means to continue to put a stain on top of a stain. Therefore, put a full stop to the past.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

08-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाबा आये हैं तुम्हें बहुत रुचि से पढ़ाने, तुम भी रुचि से पढ़ो – नशा रहे हमको पढ़ाने वाला स्वयं भगवान है”
प्रश्नः- तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों का उद्देश्य वा शुद्ध भावना कौनसी है?
उत्तर:- तुम्हारा उद्देश्य है – कल्प 5 हज़ार वर्ष पहले की तरह फिर से श्रीमत पर विश्व में सुख और शान्ति का राज्य स्थापन करना। तुम्हारी शुद्ध भावना है कि श्रीमत पर हम सारे विश्व की सद्गति करेंगे। तुम नशे से कहते हो हम सबको सद्गति देने वाले हैं। तुम्हें बाप से पीस प्राइज़ मिलती है। नर्कवासी से स्वर्गवासी बनना ही प्राइज़ लेना है।

ओम् शान्ति। स्टूडेण्ड जब पढ़ते हैं तो खुशी से पढ़ते हैं। टीचर भी बहुत खुशी से, रुचि से पढ़ाते हैं। रूहानी बच्चे यह जानते हैं कि बेहद का बाप जो टीचर भी है, हमको बहुत रुचि से पढ़ाते हैं। उस पढ़ाई में तो बाप अलग होता है, टीचर अलग होता है, जो पढ़ाते हैं। कोई-कोई का बाप ही टीचर होता है जो पढ़ाते हैं तो बहुत रुचि से पढ़ाते हैं क्योंकि फिर भी ब्लड कनेक्शन होता है ना। अपना समझकर बहुत रुचि से पढ़ाते हैं। यह बाप तुम्हें कितना रुचि से पढ़ाते होंगे तो बच्चों को भी कितना रुचि से पढ़ना चाहिए।। डायरेक्ट बाप पढ़ाते हैं और यह एक ही बार आकर पढ़ाते हैं। बच्चों को रुचि बहुत चाहिए। बाबा भगवान हमको पढ़ाते हैं और हर बात अच्छी रीति समझाते रहते हैं। कोई-कोई बच्चों को पढ़ते-पढ़ते विचार आते हैं यह क्या है, ड्रामा में यह आवागमन का चक्र है। परन्तु यह नाटक रचा ही क्यों? इससे क्या फायदा? बस सिर्फ ऐसे चक्र ही लगाते रहेंगे, इससे तो छूट जाएं तो अच्छा है। जब देखते हैं यह तो 84 का चक्र लगाते ही रहना है तो ऐसे-ऐसे ख्यालात आते हैं। भगवान ने ऐसा खेल क्यों रचा है, जो आवागमन के चक्र से छूट ही नहीं सकते, इससे तो मोक्ष मिल जाए। ऐसे-ऐसे ख्यालात कई बच्चों को आते हैं। इस आवागमन से, दु:ख सुख से छूट जायें। बाप कहते हैं यह कभी हो नहीं सकता। मोक्ष पाने के लिए कोशिश करना ही वेस्ट हो जाता है। बाप ने समझाया है एक भी आत्मा पार्ट से छूट नहीं सकती। आत्मा में अविनाशी पार्ट भरा है। वह है ही अनादि अविनाशी, बिल्कुल एक्यूरेट एक्टर्स हैं। एक भी कम जास्ती नहीं हो सकते। तुम बच्चों को सारी नॉलेज है। इस ड्रामा के पार्ट से कोई छूट नहीं सकता। न कोई मोक्ष पा सकता है। सब धर्म वालों को नम्बरवार आना ही है। बाप समझाते हैं यह बना बनाया अविनाशी ड्रामा है। तुम भी कहते हो बाबा अब जान गये, कैसे हम 84 का चक्र लगाते हैं। यह भी समझते हो पहले-पहले जो आते होंगे, वह 84 जन्म लेते होंगे। पीछे आने वाले के जरूर कम जन्म होंगे। यहाँ तो पुरूषार्थ करने का है। पुरानी दुनिया से नई दुनिया जरूर बननी है। बाबा हर एक बात बार-बार समझाते रहते हैं क्योंकि नये-नये बच्चे आते रहते हैं। उनको आगे की पढ़ाई कौन पढ़ाये। तो बाप नये-नये को देख फिर पुरानी प्वाइंट्स ही रिपीट करते हैं।

तुम्हारी बुद्धि में सारी नॉलेज है। जानते हो शुरू से लेकर कैसे हम पार्ट बजाते आये हैं। तुम यथार्थ रीति जानते हो, कैसे नम्बरवार आते हैं, कितने जन्म लेते हैं। इस समय ही बाप आकर ज्ञान की बातें सुनाते हैं। सतयुग में तो है ही प्रालब्ध। यह इस समय तुमको ही समझाया जाता है। गीता में भी शुरू में फिर पिछाड़ी में यह बात आती है – मनमनाभव। पढ़ाया जाता है स्टेट्स पाने के लिए। तुम राजा बनने के लिए अब पुरूषार्थ करते हो। और धर्म वालों का तो समझाया है – कि वह नम्बरवार आते हैं, धर्म स्थापक के पिछाड़ी सबको आना पड़ता है। राजाई की बात नहीं। एक ही गीता शास्त्र है जिसकी बहुत महिमा है। भारत में ही बाप आकर सुनाते हैं और सबकी सद्गति करते हैं। वह धर्म स्थापक जो आते हैं, वो जब मरते हैं तो बड़े-बड़े तीर्थ बना देते हैं। वास्तव में सबका तीर्थ यह भारत ही है जहाँ बेहद का बाप आते हैं। बाप ने भारत में ही आकर सर्व की सद्गति की है। बाप कहते हैं मुझे लिबरेटर, गाइड कहते हो ना। हम तुमको इस पुरानी दुनिया, दु:ख की दुनिया से लिबरेट कर शान्तिधाम, सुखधाम में ले जाते हैं। बच्चे जानते हैं बाबा हमें शान्तिधाम, सुखधाम ले जायेंगे। बाकी सब शान्तिधाम जायेंगे। दु:ख से बाप आकर लिबरेट करते हैं। उनका जन्म-मरण तो है नहीं। बाप आया फिर चला जायेगा। उनके लिए ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि मर गया। जैसे शिवानंद के लिए कहेंगे शरीर छोड़ दिया फिर क्रियाकर्म करते हैं। यह बाप चला जायेगा तो इनका क्रियाकर्म, सेरीमनी आदि कुछ भी नहीं करना होता। उनके तो आने का भी नहीं पता पड़ता। क्रियाकर्म आदि की तो बात ही नहीं है। और सब मनुष्यों का क्रियाकर्म करते हैं। बाप का क्रियाकर्म होता नहीं, उनको शरीर ही नहीं। सतयुग में यह ज्ञान भक्ति की बातें होती नहीं। यह अभी ही चलती हैं और सब भक्ति ही सिखलाते हैं। आधाकल्प है भक्ति फिर आधाकल्प के बाद बाप आकर ज्ञान का वर्सा देते हैं। ज्ञान कोई वहाँ साथ नहीं चलता। वहाँ बाप को याद करने की दरकार ही नहीं रहती। मुक्ति में हैं। वहाँ याद करना होता है क्या? दु:ख की फरियाद वहाँ होती ही नहीं। भक्ति भी पहले अव्यभिचारी फिर व्यभिचारी। इस समय तो अति व्यभिचारी भक्ति है, इसको रौरव नर्क कहा जाता है। एकदम तीखे में तीखा नर्क है फिर बाप आकर तीखा स्वर्ग बनाते हैं। इस समय है 100 प्रतिशत दु:ख, फिर 100 प्रति-शत सुख-शान्ति होगी। आत्मा जाकर अपने घर विश्राम पायेगी। समझाने में बड़ा सहज है। बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब नई दुनिया की स्थापना कर पुरानी का विनाश करना होता है। इतना कार्य सिर्फ एक तो नहीं करेंगे। खिदमतगार बहुत चाहिए। इस समय तुम बाप के खिदमतगार बच्चे बने हो। भारत की खास सच्ची सेवा करते हो। सच्चा बाप सच्ची सेवा सिखलाते हैं। अपना भी, भारत का भी और विश्व का भी कल्याण करते हो। तो कितना रुचि से करना चाहिए। बाबा कितनी रुचि से सर्व की सद्गति करते हैं। अभी भी सर्व की सद्गति होनी है जरूर। यह है शुद्ध अहंकार, शुद्ध भावना।

तुम सच्ची-सच्ची सेवा करते हो – परन्तु गुप्त। आत्मा करती है शरीर द्वारा। तुम से बहुत पूछते हैं – बी.के. का उद्देश्य क्या है? बोलो बी.के. का उद्देश्य है विश्व में सतयुगी सुख-शान्ति का स्वराज्य स्थापन करना। हम हर 5 हज़ार वर्ष बाद श्रीमत पर विश्व में शान्ति स्थापन कर विश्व शान्ति की प्राइज़ लेते हैं। यथा राजा-रानी तथा प्रजा प्राइज़ लेते हैं। नर्कवासी से स्वर्गवासी बनना कम प्राइज़ है क्या! वह पीस प्राइज़ लेकर खुश होते रहते हैं, मिलता कुछ भी नहीं। सच्ची-सच्ची प्राइज़ तो अभी हम बाप से ले रहे हैं, विश्व के बादशाही की। कहते हैं ना भारत हमारा ऊंच देश है। कितनी महिमा करते हैं। सब समझते हैं हम भारत के मालिक हैं, परन्तु मालिक हैं कहाँ। अभी तुम बच्चे बाबा की श्रीमत से राज्य स्थापन करते हो। हथियार पंवार तो कुछ नहीं हैं। दैवीगुण धारण करते हैं इसलिए तुम्हारा ही गायन पूजन है। अम्बा की देखो कितनी पूजा होती है। परन्तु अम्बा कौन है, ब्राह्मण है वा देवता…. यह भी पता नहीं। अम्बा, काली, दुर्गा, सरस्वती आदि…… ऐसे बहुत नाम हैं। यहाँ भी नीचे अम्बा का छोटा-सा मन्दिर है। अम्बा को बहुत भुजायें दे देते हैं। ऐसे तो है नहीं। इसको कहा जाता है ब्लाइन्ड फेथ। क्राइस्ट बुद्ध आदि आये, उन्होंने अपना-अपना धर्म स्थापन किया, तिथि-तारीख सब बताते हैं। वहाँ ब्लाइन्डफेथ की तो बात ही नहीं। यहाँ भारतवासियों को कुछ पता नहीं है – हमारा धर्म कब और किसने स्थापन किया? इसलिये कहा जाता है ब्लाइन्डफेथ। अभी तुम पुजारी हो फिर पूज्य बनते हो। तुम्हारी आत्मा भी पूज्य तो शरीर भी पूज्य बनता है। तुम्हारी आत्मा की भी पूजा होती है फिर देवता बनते हो तो भी पूजा होती है। बाप तो है ही निराकार। वह सदैव पूज्य है। वह कभी पुजारी नहीं बनते हैं। तुम बच्चों के लिए कहा जाता है आपेही पूज्य आपेही पुजारी। बाप तो एवर पूज्य है, यहाँ आकर बाप सच्ची सेवा करते हैं। सबको सद्गति देते हैं। बाप कहते हैं – अब मामेकम् याद करो। दूसरे कोई देहधारी को याद नहीं करना है। यहाँ तो बड़े-बड़े लखपति, करो-ड़पति जाकर अल्लाह-अल्लाह कहते हैं। कितनी अन्धश्रद्धा है। बाप ने तुमको हम सो का अर्थ भी समझाया है। वह तो कह देते शिवोहम्, आत्मा सो परमात्मा। अब बाप ने करेक्ट कर बताया है। अब जज करो, भक्तिमार्ग में राइट सुना है या हम राइट बताते हैं? हम सो का अर्थ बहुत लम्बा-चौड़ा है। हम सो ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय। अब हम सो का अर्थ कौनसा राइट है? हम आत्मा चक्र में ऐसे आती हैं। विराट रूप का चित्र भी है, इसमें चोटी ब्राह्मण और बाप को दिखाया नहीं है। देवतायें कहाँ से आये? पैदा कहाँ से हुए? कलियुग में तो है शूद्र वर्ण। सतयुग में फट से देवता वर्ण कैसे हुआ? कुछ भी समझते नहीं। भक्ति मार्ग में मनुष्य कितना फंसे रहते हैं। कोई ने ग्रंथ पढ़ लिया, ख्याल आया, मन्दिर बना लिया बस ग्रंथ बैठ सुनायेंगे। बहुत मनुष्य आ जाते, बहुत फालोअर्स बन जाते हैं। फायदा तो कुछ भी नहीं होता। बहुत दुकान निकल गये हैं। अब यह सब दुकान खत्म हो जायेंगे। यह दुकानदारी सारी भक्ति मार्ग में है, इनसे बहुत धन कमाते हैं। संन्यासी कहते हैं हम ब्रह्म योगी, तत्व योगी हैं। जैसे भारतवासी वास्तव में हैं देवी-देवता धर्म के परन्तु हिन्दू धर्म कह देते हैं। वैसे ब्रह्म तो तत्व है, जहाँ आत्मायें रहती हैं। उन्होंने फिर ब्रह्म ज्ञानी तत्व ज्ञानी नाम रख दिया है। नहीं तो ब्रह्म तत्व है रहने का स्थान। तो बाप समझाते हैं कितनी भारी भूल कर दी है। यह सब है भ्रम। मैं आकर सब भ्रम दूर कर देता हूँ। भक्ति मार्ग में कहते भी हैं हे प्रभू तेरी गति मत न्यारी है। गति तो कोई कर न सके। मतें तो अनेकानेक की मिलती हैं। यहाँ की मत कितनी कमाल कर देती है। सारे विश्व को चेंज कर देती है।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है, इतने सब धर्म कैसे आते हैं! फिर आत्मायें कैसे अपने-अपने सेक्शन में जाकर रहती हैं। यह सब ड्रामा मे नूँध है। यह भी बच्चे जानते हैं – दिव्य दृष्टि दाता एक बाप ही है। बाबा को कहा – यह दिव्य दृष्टि की चाबी हमको दे दो तो हम कोई को साक्षात्कार करा दें। बोला – नहीं, यह चाबी किसको मिल नहीं सकती। उनके एवज में तुमको फिर विश्व की बादशाही देता हूँ। मैं नहीं लेता हूँ। मेरा ही पार्ट है साक्षात्कार कराने का। साक्षात्कार होने से कितना खुश हो जाते हैं। मिलता कुछ भी नहीं। ऐसे नहीं कि साक्षात्कार से कोई निरोगी बन जाते हैं या धन मिल जाता है। नहीं, मीरा को साक्षात्कार हुआ परन्तु मुक्ति को थोड़ेही पाया। मनुष्य समझते हैं वह रहती ही वैकुण्ठ में थी। परन्तु वैकुण्ठ कृष्णपुरी है कहाँ। यह सब हैं साक्षात्कार। बाप बैठ सब बातें समझाते हैं। इनको भी पहले-पहले विष्णु का साक्षात्कार हुआ तो बहुत खुश हो गया। वह भी जब देखा कि मैं महाराजा बनता हूँ। विनाश भी देखा फिर राजाई का भी देखा तब निश्चय बैठा ओहो! मैं तो विश्व का मालिक बनता हूँ। बाबा की प्रवेशता हो गई। बस बाबा यह सब आप ले लो, हमको तो विश्व की बादशाही चाहिए। तुम भी यह सौदा करने आये हो ना। जो ज्ञान उठाते हैं उनकी फिर भक्ति छूट जाती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दैवीगुण धारण कर श्रीमत पर भारत की सच्ची सेवा करनी है। अपना, भारत का और सारे विश्व का कल्याण बहुत-बहुत रुचि से करना है।

2) ड्रामा की अनादि अविनाशी नूँध को यथार्थ समझ कोई भी टाइम वेस्ट करने वाला पुरूषार्थ नहीं करना है। व्यर्थ ख्यालात भी नहीं चलाने हैं।

वरदान:- एकाग्रता के अभ्यास द्वारा एकरस स्थिति बनाने वाले सर्व सिद्धि स्वरूप भव
जहाँ एकाग्रता है वहाँ स्वत: एकरस स्थिति है। एकाग्रता से संकल्प, बोल और कर्म का व्यर्थ पन समाप्त हो जाता है और समर्थ पन आ जाता है। एकाग्रता अर्थात् एक ही श्रेष्ठ संकल्प में स्थित रहना। जिस एक बीज रूपी संकल्प में सारा वृक्ष रूपी विस्तार समाया हुआ है। एकाग्रता को बढ़ाओ तो सर्व प्रकार की हलचल समाप्त हो जायेगी। सब संकल्प, बोल और कर्म सहज सिद्व हो जायेंगे। इसके लिए एकान्तवासी बनो।
स्लोगन:- एक बार की हुई गलती को बार-बार सोचना अर्थात् दाग पर दाग लगाना इसलिए बीती को बिन्दी लगाओ।

TODAY MURLI 8 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 7 October 2019:- Click Here

08/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remain honest with the true Father. Keep your chart of honesty. Renounce any arrogance of knowledge and make full effort to stay in remembrance.
Question: What are the main signs of mahavir (brave warrior) children?
Answer: Mahavir children constantly have remembrance of the Father in their intellects. Mahavirs means those who are powerful. Mahavirs are constantly happy and soul conscious; they do not have the slightest arrogance of the body. It remains in the intellects of such mahavir children that they are souls and that Baba is teaching them.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children, “Are you sitting here considering yourselves to be souls or spirits?”, because the Father knows that this is a little difficult. It is in this that effort is required. Those who sit here in the state of soul consciousness are called mahavirs. Those who consider themselves to be souls and who remember the Father are called mahavirs. Constantly keep asking yourself: Am I soul conscious? You become mahavirs by having remembrance, that is, you become supreme. People of other religions who come do not become supreme because they come later on. You become supreme, numberwise. To be supreme means to be powerful and a mahavir. Therefore, you have happiness inside you that you are souls and that the Father of all you souls is teaching you. The Father knows that some of you show 25% of your chart and some show 100%. Some say that they only stay in remembrance for half an hour out of 24 hours. Therefore, what percentage is that? You have to be very cautious with yourself. You have to gradually become mahavirs. You cannot become this instantly; it does take effort. Do not think that those who have knowledge of the brahm element consider themselves to be souls. They consider the brahm element, the home, to be the Supreme Soul and they say of themselves: I am the brahm too.One cannot have yoga with the home. You children now consider yourselves to be souls. Each of you has to look at your chart and ask yourself for how long in 24 hours you considered yourself to be a soul. You children now know that you are on God’s service. You are on Godly service. You have to tell everyone that the Father simply says: Manmanabhav, that is, consider yourself to be a soul and remember Me. This is the service you have to do. The more service you do, the more fruit you receive. You have to understand this aspect clearly. Even very good, maharathi children do not understand this aspect completely. A great deal of effort is required for this. You cannot receive a reward without making effort. Baba sees that some write their charts and send them whereas others don’t even make the effort to write a chart. They have arrogance of their knowledge. They are not able to make any effort to sit in remembrance. The Father explains that the main thing is remembrance. You have to keep an eye on yourself and see what your chart is like and note it down. Some say that they don’t have time to write their charts. The main thing that the Father says is: Consider yourself to be a soul and remember Alpha. For however long you sit here, ask your heart now and then: For how long did I stay in remembrance? When you are sitting here, you have to stay in remembrance and it does not matter if you also spin the discus. We definitely have to go back with Baba. We have to return after we have become pure and satopradhan. You have to understand this aspect very well. Some forget it the instant they are told; they do not tell Baba their real chart. There are many maharathis who do not tell the truth. The world of falsehood has existed for half a cycle, and so it is as though falsehood is fixed inside them. Ordinary ones write their chart instantly. The Father says: By staying on the pilgrimage of remembrance your sins will be burnt away and you will become pure. You will not become pure simply through knowledge. So, what benefit is there? You called out to be purified. For this you need to have remembrance. Each one of you should show your chart with honesty. When you sit here for 45 minutes, you have to check and see for how long during that time, you considered yourself to be a soul and remained in remembrance of the Father. Some are too ashamed to tell the truth. They do not tell the Father the truth. They only give news of the service they did and how many they explained to and that they did this and that; they do not write a chart of their pilgrimage of remembrance. The Father says: Because of not staying on the pilgrimage of remembrance, your arrows do not strike the target. There is no strength in their sword of knowledge. They can relate knowledge but, without yoga, it is difficult for their arrows to strike the target. Baba says: You don’t have remembrance for even five minutes out of the 45 minutes you sit. Some don’t even know how to consider themselves to be souls or how to remember the Father. Some say that they stay in remembrance constantly. Baba says: It is not possible to have that stage now. If you had constant remembrance, you would reach your karmateet stage and you would be completely enlightened with knowledge. By explaining a little to someone, your arrows would strike the target. However, this does take effort. You cannot become the masters of the world just like that! Maya takes your intellects’ yoga from one direction to the other; you remember your friends and relatives etc. When someone has to travel abroad, he begins to remember his friends, relatives, the steamer and aeroplanes etc. The practical desire they have of going abroad pulls their intellects and it completely breaks their intellects’ yoga. It takes great effort to prevent your intellect from going in another direction. You should only have remembrance of the one Father. Even this body should not be remembered. You will reach that stage at the end. Day by day, the more you increase your pilgrimage of remembrance, the more you will benefit yourself. The more you stay in remembrance, the greater your income will be. If you leave your body now, you will not be able to earn this income. You would become a small baby and so what sort of income could you earn then? Although the soul will carry his sanskars with him, a teacher would still be needed to remind him. The Father also reminds you: Remember the Father. No one except you knows that it is only by having remembrance of the Father that you can become pure. They consider bathing in the Ganges to be elevated. This is why they continue to bathe in the Ganges. Baba has experienced all of those things. He too adopted many gurus. They go to bathe in water. Here, your bathing takes place in the pilgrimage of remembrance. You souls cannot become pure without having remembrance of the Father. This is called yoga, that is, the pilgrimage of remembrance. Don’t think that knowledge is bathing; it is yoga that is bathing. Knowledge is studying, but yoga is the bathing through which your sins are cut away. There are two things, knowledge and yoga. It is by having remembrance that the sins of many births are burnt away. The Father says: It is through this pilgrimage of remembrance that you will become pure and satopradhan. The Father explains very clearly: Sweetest children, understand these aspects very clearly. Do not forget that your sins of many births will be cut away by staying on this pilgrimage of remembrance. Knowledge is the means of earning an income. Study and remembrance are two separate things. Gyan and vigyan: Gyan means to study and vigyan means to have yoga, which is remembrance. Which is more elevated: knowledge or yoga? The pilgrimage of remembrance is very high. It is this that takes effort. All of you will go to heaven. The golden age is heaven and silver age is semi-heaven. You will go there and take your place according to how much you study. However, yoga is the main aspect. You can explain this knowledge at the exhibitions and museums, but you cannot explain yoga. You can only say: Consider yourself to be a soul and remember the Father. However, you can give a lot of knowledge. The Father says: First of all, tell them this aspect: Consider yourself to be a soul and remember the Father. You create so many pictures etc. in order to give this knowledge, but there is no need for pictures in order for you to explain yoga. These pictures have been created in order for you to explain knowledge. By considering yourself to be a soul, all your arrogance of the body will completely break. You definitely have to use your mouth in order to speak knowledge. There is only one aspect in yoga: you have to consider yourself to be a soul and remember the Father. However, a body is needed in order to study. How could you study or teach without a body? The Father is the Purifier and so you have to have yoga with Him, but no one knows this. The Father Himself comes and teaches you. Human beings cannot teach this to human beings. The Father says: Remember Me! This is called the knowledge of the Supreme Soul. The Supreme Soul is the Ocean of Knowledge. These aspects require great understanding. Tell everyone to remember the unlimited Father, the One who establishes the new world. They don’t even realise that the new world is going to be established so that they would remember God. Since they are not even aware of this, why would they think about it? You know that there is only the one Supreme Father, the Supreme Soul, God Shiva. They say; Salutations to the deity Brahma. Then, at the end, they say: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. That Father is the Highest on High, but they do not know who He is. If He is in the pebbles and stones, to whom do they bow down? They speak without understanding the significance of what they say. Here, you have to go beyond sound. You have to go to the land of nirvana, the land of silence. There is the land of peace and the land of happiness. That is the land of heaven. You wouldn’t call hell a land. The words are very easy. How long will the religion of Christ continue? They don’t know this. They say that Paradise existed 3000 years before Christ. That means, there was the kingdom of deities. Therefore, as it has been 2000 years since the Christian religion came into existence, there has to be the deity religion again. The intellects of human beings do not work at all. Because of not knowing the secrets of the drama, they continue to make so many plans. The old mothers cannot understand these aspects. The Father explains: It is now the stage of retirement for all of you. You have to go beyond sound. Although they say that someone has gone to the land of nirvana, no one can go there. They definitely do have to take rebirth. No one can return home. They keep the company of a guru in order to go into the stage of retirement. There are many ashrams for those in their age of retirement. There are also many mothers. You can do service there too. The Father sits here and explains to you the meaning of the stage of retirement. You are all now in the stage of retirement. The whole world is in the stage of retirement. All the human beings you see are in the stage of retirement. Only the one Satguru is the Bestower of Salvation for all. Everyone has to go back. Those who make very good effort will claim a high status. This time is called “the time of judgement”. People don’t know the meaning of “the time of judgement”. You children also understand this, numberwise. The destination is very high. Everyone has to understand that they now definitely have to return home. Souls have to go beyond sound, and they will all come down to repeat their parts. However, if you return whilst remembering the Father, you will claim a high status. You also have to imbibe divine virtues. You must not perform any dirty actions or steal etc. You can become a charitable soul by having yoga, not by having knowledge. Souls have to become pure. Only pure souls can return to the land of peace. All souls reside there. They are still coming down now. Those that still remain there will also continue to come down. You children have to stay on the pilgrimage of remembrance a great deal. You can receive very good help here. You receive power from one another. The strength of just the few of you children is working. They show the Goverdhan mountain being lifted by fingers in co-operation. You are the gopes and gopis. The deities of the golden age are not called gopes and gopis. It is you who give your fingers of co-operation. You connect your intellects’ in yoga to the one Father in order to change the iron age into the golden age and hell into heaven. It is by having yoga that you have to become pure. You must not forget these matters. You receive this power here. Outside, there is the company of devilish human beings. It is very difficult to stay in remembrance there. You cannot remain as unshakeable there. You need this gathering. When you all sit here together in a stable way you can receive help. There is no business etc. here and so where would your intellect go? When you live outside, your business and home etc. definitely pull you. Here, there is nothing like that. The atmosphere here is very good and pure. According to the drama, you are sitting far away at a hill station. Your accurate memorial is in front of you. Heaven is portrayed above, on the ceiling. Otherwise, where else could they show it? Therefore, Baba says: When you come and sit here, check whether you sit in remembrance of the Father. You should also continue to spin the discus of self-realisation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep an eye on your chart of remembrance and see for how long you remember the Father. Where does your intellect wander at the time of remembrance?
  2. At this time of judgment, make effort to go beyond sound. Along with having remembrance of the Father, you definitely have to imbibe divine virtues. Do not perform any dirty acts or steal etc.
Blessing: May you be cheerful and happy-hearted and remain constantly filled with all attainments.
When they make a statue of a deity, they always portray a smiling (cheerful) face. They portray you remaining cheerful in the images of your memorials of this time. To be cheerful means constantly to be filled with all attainments. Only those who are full are able to remain cheerful. If there is some lack of attainment, you would not remain cheerful. No matter how cheerful someone tries to be, he may even be laughing externally, but not in his heart, whereas you smile in your heart because you are cheerful and filled with all attainments.
Slogan: In order to pass with honours, let your account of accumulation of every treasure be full.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 October 2019

To Read Murli 7 October 2019:- Click Here
08-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सच्चे बाप के साथ सच्चे बनो, सच्चाई का चार्ट रखो, ज्ञान का अहंकार छोड़ याद में रहने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करो”
प्रश्नः- महावीर बच्चों की मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- महावीर बच्चे वह जिनकी बुद्धि में निरन्तर बाप की याद हो। महावीर माना शक्तिमान्। महावीर वह जिन्हें निरन्तर खुशी हो, जो आत्म-अभिमानी हो, ज़रा भी देह का अहंकार न हो। ऐसे महावीर बच्चों की बुद्धि में रहता कि हम आत्मा हैं, बाबा हमें पढ़ा रहे हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं – अपने को रूह या आत्मा समझ बैठे हो? क्योंकि बाप जानते हैं यह कुछ डिफीकल्ट है, इसमें ही मेहनत है। जो आत्म-अभिमानी होकर बैठे हैं उनको ही महावीर कहा जाता है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना – उनको महावीर कहा जाता है। हमेशा अपने से पूछते रहो कि हम आत्म-अभिमानी हैं? याद से ही महावीर बनते हैं, गोया सुप्रीम बनते हैं। और जो भी धर्म वाले आते हैं वह इतने सुप्रीम नहीं बनते हैं। वह तो आते भी देर से हैं। तुम नम्बरवार सुप्रीम बनते हो। सुप्रीम अर्थात् शक्तिमान् वा महावीर। तो अन्दर में यह खुशी होती है कि हम आत्मा हैं। हम सब आत्माओं का बाप हमको पढ़ाते हैं। यह भी बाप जानते हैं कोई अपना चार्ट 25 परसेन्ट दिखाते हैं, कोई 100 परसेन्ट दिखाते हैं। कोई कहते हैं 24 घण्टे में आधा घण्टा याद ठहरती है तो कितना परसेन्ट हुआ? अपनी बड़ी सम्भाल रखनी है। धीरे-धीरे महावीर बनना है। फट से नहीं बन सकते हैं, मेहनत है। वह जो ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी हैं, ऐसे मत समझो वह अपने को कोई आत्मा समझते हैं। वह तो ब्रह्म घर को परमात्मा समझते हैं और स्वयं को कहते हैं अहम् ब्रह्मस्मि। अब घर से थोड़ेही योग लगाया जाता है। अभी तुम बच्चे अपने को आत्मा सम-झते हो। यह अपना चार्ट देखना है – 24 घण्टे में हम कितना समय अपने को आत्मा समझते हैं? अभी तुम बच्चे जानते हो हम ईश्वरीय सर्विस पर हैं, ऑन गॉडली सर्विस। यही सबको बताना है कि बाप सिर्फ कहते हैं मनमनाभव अर्थात् अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। यह है तुम्हारी सर्विस। जितनी तुम सर्विस करेंगे उतना फल भी मिलेगा। यह बातें अच्छी रीति समझने की हैं। अच्छे-अच्छे महारथी बच्चे भी इस बात को पूरा समझते नहीं हैं। इसमें बड़ी मेहनत है। मेहनत बिगर फल थोड़ेही मिल सकता है।

बाबा देखते हैं कोई चार्ट बनाकर भेज देते हैं, कोई से तो चार्ट लिखना पहुँचता ही नहीं है। ज्ञान का अहंकार है। याद में बैठने की मेहनत पहुँचती नहीं। बाप समझाते हैं मूल बात है ही याद की। अपने पर नज़र रखनी है कि हमारा चार्ट कैसा रहता है? वह नोट करना है। कई कहते हैं चार्ट लिखने की फुर्सत नहीं। मूल बात तो बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ अल्फ को याद करो। यहाँ जितना समय बैठते हो तो बीच-बीच में अपने दिल से पूछो कि हम कितना समय याद में बैठे? यहाँ जब बैठते हो तो तुमको याद में ही रहना है और चक्र फिराओ तो भी हर्जा नहीं। हमको बाबा के पास जरूर जाना है। पवित्र सतोप्रधान होकर जाना है। इस बात को अच्छी रीति समझना है। कई तो फट से भूल जाते हैं। सच्चा-सच्चा चार्ट अपना बताते नहीं हैं। ऐसे बहुत महारथी हैं। सच तो कभी नहीं बतायेंगे। आधाकल्प झूठ दुनिया चली है तो झूठ जैसे अन्दर जम गया है। इसमें भी जो साधारण हैं वह तो झट चार्ट लिखेंगे। बाप कहते हैं तुम पापों को भस्म कर पावन होंगे, याद की यात्रा से। सिर्फ ज्ञान से तो पावन नहीं होंगे। बाकी फायदा क्या। पुकारते भी हो पावन बनने के लिए। उसके लिए चाहिए याद। हर एक को सच्चाई से अपना चार्ट बताना चाहिए। यहाँ तुम पौना घण्टा बैठे हो तो देखना है पौने घण्टे में हम कितना समय अपने को आत्मा समझ बाप की याद में थे? कइयों को तो सच बताने में लज्जा आती है। बाप को सच नहीं बताते। वह समाचार देंगे यह सर्विस की, इतनों को समझाया, यह किया। परन्तु याद की यात्रा का चार्ट नहीं लिखते। बाप कहते हैं याद की यात्रा में न रहने कारण ही तुम्हारा कोई को तीर नहीं लगता है। ज्ञान तलवार में जौहर नहीं भरता है। ज्ञान तो सुनाते हैं, बाकी योग का तीर लग जाए – वह बड़ा मुश्किल है। बाबा तो कहते हैं पौने घण्टे में 5 मिनट भी याद की यात्रा में नहीं बैठते होंगे। समझते ही नहीं हैं कि कैसे अपने को आत्मा समझ और बाप को याद करें। कई तो कहते हैं हम निरन्तर याद में रहते हैं। बाबा कहते हैं यह अवस्था अभी हो नहीं सकती। अगर निरन्तर याद करते फिर तो कर्मातीत अवस्था आ जाए, ज्ञान की पराकाष्ठा हो जाए। थोड़ा ही किसको समझाने से बहुत तीर लग जाए। मेहनत है ना। विश्व का मालिक कोई ऐसे थोड़ेही बन जायेंगे। माया तुम्हारी बुद्धि का योग कहाँ का कहाँ ले जायेगी। मित्र-सम्बन्धी आदि याद आते रहेंगे। किसको विलायत जाना होगा तो सब मित्र-सम्बन्धी, स्टीमर, एरोप्लेन आदि ही याद आते रहेंगे। विलायत जाने की जो प्रैक्टिकल इच्छा है वह खींचती है। बुद्धि का योग बिल्कुल टूट जाता है। और कोई तरफ बुद्धि न जाए, इसमें बड़ी मेहनत की बात है। सिर्फ एक बाप की ही याद रहे। यह देह भी याद न आये। यह अवस्था तुम्हारी पिछाड़ी को होगी।

दिन-प्रतिदिन जितना याद की यात्रा को बढ़ाते रहें, इसमें तुम्हारा ही कल्याण है। जितना याद में रहेंगे उतना तुम्हारी कमाई होगी। अगर शरीर छूट गया फिर यह कमाई तो कर नहीं सकेंगे। जाकर छोटा बच्चा बनेंगे। तो कमाई क्या कर सकेंगे। भल आत्मा यह संस्कार ले जायेगी परन्तु टीचर तो चाहिए ना जो फिर स्मृति दिलाये। बाप भी स्मृति दिलाते हैं ना। बाप को याद करो – यह सिवाए तुम्हारे और कोई को पता नहीं है कि बाप की याद से ही पावन बनेंगे। वह तो गंगा स्नान को ही ऊंच मानते हैं इसलिए गंगा स्नान ही करते रहते हैं। बाबा तो इन सब बातों का अनुभवी है ना। इसने तो बहुत गुरू किये हैं। वह स्नान करने जाते हैं पानी का। यहाँ तुम्हारा स्नान होता है याद की यात्रा से। सिवाए बाप की याद के तुम्हारी आत्मा पावन बन ही नहीं सकती। इनका नाम ही है योग अर्थात् याद की यात्रा। ज्ञान को स्नान नहीं समझना। योग का स्नान है। ज्ञान तो पढ़ाई है, योग का स्नान है, जिससे पाप कटते हैं। ज्ञान और योग दो चीजें हैं। याद से ही जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होते हैं। बाप कहते हैं इस याद की यात्रा से ही तुम पावन बन सतोप्रधान बन जायेंगे। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों इन बातों को अच्छी रीति समझो। यह भूलो नहीं। याद की यात्रा से ही जन्म-जन्मान्तर के पाप कटेंगे, बाकी ज्ञान तो है कमाई। याद और पढ़ाई दोनों अलग चीज़ है। ज्ञान और विज्ञान – ज्ञान माना पढ़ाई, विज्ञान माना योग अथवा याद। किसको ऊंच रखेंगे – ज्ञान या योग? याद की यात्रा बहुत बड़ी है। इसमें ही मेहनत है। स्वर्ग में तो सब जायेंगे। सतयुग है स्वर्ग, त्रेता है सेमी स्वर्ग। वहाँ तो इस पढ़ाई अनुसार जाकर विराजमान होंगे। बाकी मुख्य है योग की बात। प्रदर्शनी वा म्युज़ियम आदि में भी तुम ज्ञान समझाते हो। योग थोड़ेही समझा सकेंगे। सिर्फ इतना कहेंगे अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाकी ज्ञान तो बहुत देते हो। बाप कहते हैं पहले-पहले बात ही यह बताओ कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। इस ज्ञान देने के लिए ही तुम इतने चित्र आदि बनाते हो। योग के लिए कोई चित्र की दर-कार नहीं है। चित्र सब ज्ञान की समझानी के लिए बनाये जाते हैं। अपने को आत्मा समझने से देह का अहं-कार बिल्कुल टूट जाता है। ज्ञान में तो जरूर मुख चाहिए वर्णन करने के लिए। योग की तो एक ही बात है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। पढ़ाई में तो देह की दरकार है। शरीर बिगर कैसे पढ़ेंगे वा पढ़ायेंगे।

पतित-पावन बाप है तो उनके साथ योग लगाना पड़े ना। परन्तु कोई जानते नहीं हैं। बाप खुद आकर सिख-लाते हैं, मनुष्य-मनुष्य को कभी सिखला न सकें। बाप ही कहते हैं मुझे याद करो, इसको कहा जाता है पर-मात्मा का ज्ञान। परमात्मा ही ज्ञान का सागर है। यह बड़ी समझने की बातें हैं। सबको यही बोलो कि बेहद के बाप को याद करो। वह बाप नई दुनिया स्थापन करते हैं। वह समझते ही नहीं कि नई दुनिया स्थापन होनी है, जो भगवान को याद करें। ध्यान में भी नहीं है तो ख्याल करें ही क्यों। यह भी तुम जानते हो। परमपिता पर-मात्मा शिव भगवान एक ही है। कहते भी हैं ब्रह्मा देवताए नम: फिर पिछाड़ी में कहते हैं शिव परमात्माए नम:। वह बाप है ही ऊंच ते ऊंच। परन्तु वह क्या है, यह भी नहीं समझते। अगर पत्थर ठिक्कर में है फिर नम: काहे की। अर्थ रहित बोलते रहते हैं। यहाँ तो तुमको आवाज़ से परे जाना है अर्थात् निर्वाणधाम, शान्तिधाम में जाना है। शान्तिधाम, सुखधाम कहा जाता है। वह है स्वर्गधाम। नर्क को धाम नहीं कहेंगे। अक्षर बड़े सहज हैं। क्राइस्ट का धर्म कहाँ तक चलेगा? यह भी उन लोगों को कुछ पता नहीं। कहते भी हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था अर्थात् देवी देवताओं का राज्य था तो फिर 2 हज़ार वर्ष क्रिश्चियन का हुआ, अब फिर देवता धर्म होना चाहिए ना। मनुष्यों की बुद्धि कुछ काम नहीं करती। ड्रामा के राज़ को न जानने कारण कितने प्लैन बनाते रहते हैं। यह बातें बड़ी अवस्था वाली बूढ़ी मातायें तो समझ न सकें। बाप समझाते हैं अभी तुम सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। वाणी से परे जाना है। वह भल कहते हैं निर्वाणधाम गया परन्तु जाता कोई नहीं है। पुनर्जन्म फिर भी लेते जरूर हैं। वापिस कोई भी जाता नहीं। वानप्रस्थ में जाने के लिए गुरू का संग करते हैं। बहुत वानप्रस्थ आश्रम हैं। मातायें भी बहुत हैं। वहाँ भी तुम सर्विस कर सकते हो। वानप्रस्थ का अर्थ क्या है, तुमको बाप बैठ समझाते हैं। अभी तुम सब वानप्रस्थी हो। सारी दुनिया वानप्रस्थी है। जो भी मनुष्य मात्र देखते हो सब वानप्रस्थी हैं। सर्व का सद्गति दाता एक ही सतगुरू है। सबको जाना ही है। जो अच्छी रीति पुरूषार्थ करते हैं वह अपना ऊंच पद पाते हैं। इसको कहा ही जाता है – कयामत का समय। कयामत के अर्थ को भी वह लोग समझते नहीं हैं। तुम बच्चों में भी नम्बरवार समझते हैं। बड़ी ऊंच मंजिल है। सबको समझना है – अभी हमको घर जाना है जरूर। आत्माओं को वाणी से परे जाना है फिर पार्ट रिपीट करेंगे। परन्तु बाप को याद करते-करते जायेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। दैवी गुण भी धारण करने हैं। कोई गंदा काम चोरी आदि नहीं करना चाहिए। तुम पुण्य आत्मा बनेंगे ही योग से, ज्ञान से नहीं। आत्मा पवित्र चाहिए। शान्तिधाम में पवित्र आत्मायें ही जा सकती हैं। सब आत्मायें वहाँ रहती हैं। अभी आती रहती हैं। अब बाकी जो भी होगी वह यहाँ आती रहेंगी।

तुम बच्चों को याद की यात्रा में बहुत रहना है। यहाँ तुमको मदद अच्छी मिलेगी। एक-दो का बल मिलता है ना। तुम थोड़े बच्चों की ही ताकत काम करती है। गोवर्धन पहाड़ दिखाते हैं ना, अंगुली पर उठाया। तुम गोप-गोपियां हो ना। सतयुगी देवी-देवताओं को गोप-गोपियां नहीं कहा जाता है। अंगुली तुम देते हो। आइरन एज को गोल्डन एज वा नर्क को स्वर्ग बनाने के लिए तुम एक बाप के साथ बुद्धि का योग लगाते हो। योग से ही पवित्र होना है। इन बातों को भूलना नहीं है। यह ताकत तुमको यहाँ मिलती है। बाहर में तो आसुरी मनुष्यों का संग रहता है। वहाँ याद में रहना बड़ा मुश्किल है। इतना अडोल वहाँ तुम रह नहीं सकेंगे। संगठन चाहिए ना। यहाँ सब एकरस इकट्ठे बैठते हैं तो मदद मिलेगी। यहाँ धन्धा आदि कुछ भी नहीं रहता है। बुद्धि कहाँ जायेगी! बाहर में रहने से धन्धा घर आदि खीचेंगा जरूर। यहाँ तो कुछ है नहीं। यहाँ का वायुमण्डल अच्छा शुद्ध रहता है। ड्रामा अनुसार कितना दूर पहाड़ी पर आकर तुम बैठे हो। यादगार भी सामने एक्यूरेट खड़ा है। ऊपर में स्वर्ग दिखाया है। नहीं तो कहाँ बनावें। तो बाबा कहते हैं यहाँ आकर बैठते हो तो अपनी जांच रखो – हम बाप की याद में बैठते हैं? स्वदर्शन चक्र भी फिरता रहे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने याद के चार्ट पर पूरी नज़र रखनी है, देखना है हम बाप को कितना समय याद करते हैं। याद के समय बुद्धि कहाँ-कहाँ भटकती है?

2) इस कयामत के समय में वाणी से परे जाने का पुरूषार्थ करना है। बाप की याद के साथ दैवीगुण भी जरूर धारण करने हैं। कोई गंदा काम चोरी आदि नहीं करना है।

वरदान:- सदा सर्व प्राप्तियों से भरपूर रहने वाले हर्षितमुख, हर्षितचित भव
जब भी कोई देवी या देवता की मूर्ति बनाते हैं तो उसमें चेहरा सदा हर्षित दिखाते हैं। तो आपके इस समय के हर्षितमुख रहने का यादगार चित्रों में भी दिखाते हैं। हर्षितमुख अर्थात् सदा सर्व प्राप्तियों से भरपूर। जो भरपूर होता है वही हर्षित रह सकता है। अगर कोई भी अप्राप्ति होगी तो हर्षित नहीं रहेंगे। कोई कितना भी हर्षित रहने की कोशिश करे, बाहर से हंसेंगे लेकिन दिल से नहीं। आप तो दिल से मुस्कराते हो क्योंकि सर्व प्राप्तियों से भरपूर हर्षितचित है।
स्लोगन:- पास विद आनर बनना है तो हर खजाने का जमा खाता भरपूर हो।

TODAY MURLI 8 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 October 2018 :- Click Here

08/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you will be able to stay in constant happiness when you have full faith that it is the versions of God alone that you listen to and that God Himself teaches you.
Question: According to the drama, what plans and preparations is everyone making?
Answer: At this time, everyone is making plans to produce so much grain in so many years and make Delhi and Bharat into New Delhi and New Bharat. However, they continue to make preparations for death. The garland of death is around the neck of the whole world. It is said: Human beings want one thing and something else happens. The Father has His own plan and human beings have their own plans.
Song: Someone made me belong to Him and taught me how to smile. 

Om shanti. Incorporeal God speaks through the body of Brahma. You should make this first thing firm: it is not a human being teaching you here. Incorporeal God is teaching you. He is always called the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. In Benares, they have a temple to Shiva. First of all, you souls should have the faith that it is the unlimited Father who is teaching you. Until human beings have this faith, they are of no use; they are worth shells. By knowing the Father, you become worth diamonds. It is the people of Bharat who become worth shells and the people of Bharat who become worth diamonds. The Father comes and changes human beings into deities. Until you have the faith that God is teaching you, it is as though, while sitting in this college , you don’t understand anything. That mercury of happiness just doesn’t rise. He is our most beloved Father. He is the One people call out to on the path of devotion at a time of sorrow: O Supreme Soul, have mercy! The soul says this. As people have physical fathers they don’t understand which father they remember. A soul speaks through his mouth: This is my physical father and that is my parlokik Father. You have now become soul conscious whereas the rest of the human beings are body conscious. They don’t know about souls or the Supreme Soul. No one has the knowledge that we souls are children of the Supreme Father, the Supreme Soul; the Father first of all inspires this faith. God speaks: I teach you Raja Yoga. Forget your body and all bodily relations, have the faith that you are a soul and remember Me, your Father. Neither a human being nor Krishna etc. can say this. This Maya is false, the body is false and the whole world is false. Not a single one is true or honest. There isn’t a single false being in the land of truth. Lakshmi and Narayan were the masters of the land of truth; they were worthy of worship. The people of Bharat have now become corrupt in their religion and corrupt in their actions. This is why it is called corrupt Bharat. Elevated Bharat exists in the golden age. Everyone there always smiles; they are never ill or diseased. Here, although they say that so-and-so went to heaven, no one knows anything. The kingdom of this time is like a mirage. There is the story of a deer: it thought there was water there but when it tried to enter the ‘lake’ it became trapped in quicksand. The kingdom of this time is like a bog. The more they decorate it, the more degraded it becomes. They continue to say that there will be a lot of grain in Bharat, that there will be this etc., but nothing happens. This is referred to as: human beings want one thing and something else happens. The Father says: This is no kingdom. A kingdom is where there is a king and queen. This is the rule of people over people. It is an irreligious, unrighteous kingdom. In Bharat, there used to be the kingdom of the original, eternal deities. They have now become corrupt in their religion and corrupt in their actions. There is no other country like this where they don’t know their own religion. It is said: Religion is might. There used to be the kingdom of deities over the whole world. They are now completely poverty-stricken. They receive so much aid from outside. They have the aid of physical power whereas you have the aid of the power of yoga. You children know that the Father is the most beloved from whom you receive the inheritance of constant happiness for 21 births. There, there is never any mention of sorrow or crying etc. Neither is there untimely death, nor do they give birth to four or five children at the same time as they do nowadays. They don’t have anything to eat and so they ask for there to be birth control. Human beings want one thing and something else happens. They think that there is to be New Delhi and a new kingdom. However, there is nothing like that. Death is around everyone’s neck. They are making full preparations for death. This is truly the same Mahabharat War that there was 5000 years ago. The Father says: This is not a kingdom. This is like a mirage. There is also the example of Draupadi. All of you are Draupadis. You have the Father’s orders to conquer those vices. We promise that we will always remain pure and make Bharat pure. Those men do not allow us to remain pure. Some incognito gopikas call out so much: They beat us. You know that lust, the great enemy, causes sorrow for human beings from its beginning through the middle to the end. The Father says: You have to conquer this. In the Gita, too, it says: God speaks; Lust is the great enemy. However, people don’t understand this. The Father says: Become pure and you will become the kings of kings. Now, tell Me: Do you want to become the kings of kings or do you want to become impure? In this final birth, the Father says: Become pure for My sake. The impure world will be destroyed and the pure world established. For half the cycle, you have experienced so much sorrow by drinking poison. Can you not renounce it for one birth? The old world is now to be destroyed and the new world established. In this, only those who become pure and make others pure will claim a high status. This is Raja Yoga. You say that you are Brahma Kumars and Kumaris. Therefore, you are definitely the children of Prajapita Brahma. Brahma is the child of Shiva; it is Shiva who will give you your inheritance. This is the i ncorporeal God f atherly University. It is Shiva who establishes heaven and gives you your inheritance. That God, the Father, the blissful and knowledge-full Father, sits here and teaches you. However, this can only sit in your intellect when your body consciousness is removed. When it is not in their fortune, they are unable to imbibe. You are truly the children of Jagadpita (the world father). You Brahma Kumars and Kumaris are studying Raja Yoga. Your memorial is also here. It is such a good temple. No one, apart from you children, knows its meaning. They wasted all their money while worshipping and bowing their heads. They have now totally become worth shells. They don’t have any grain to eat. They also say: Now, don’t have so many children. It is not in the power of human beings to say that lust is the great enemy. The more they are told to have fewer children, the more children they will have! No one has the power to do anything about this. You children first of all have to explain that this is a God fatherly University. God is One. This is the only cycle that continues to turn. These matters have to be understood. The secrets of this spiritual pilgrimage also have to be explained to your friends and relatives. You have been on physical pilgrimages for birth after birth. This spiritual pilgrimage only takes place once. Everyone has to return home. No impure beings will remain here. It is now the time of settlement. Not all of these millions of people will exist in the golden age; there will be very few people there. Everyone has to return home; the Father has come to take you back. Until you understand this, you won’t remember the sweet home or the land of happiness. It is very easy to remember them. The Father says: Come to the sweet home. No one, apart from Me, can take you there. I alone am the Death of all Deaths. He explains so clearly. However, it is a wonder that, even after being here for so many years, they are unable to imbibe. Some become very clever whereas others don’t understand anything at all. This doesn’t mean that if this is the state of the older ones, then what is going to happen to you? No; not everyone in a school can be number one. It is also numberwise here. You have to explain to everyone that it is now the time to claim your inheritance from the unlimited Father. You have to claim your inheritance of constant happiness for 21 births. So many Brahma Kumars and Kumaris are making effort; it is numberwise. You know that the Purifier is the one Father and that all the rest are impure. The Father says: The Bestower of Salvation for all is One. He is the One who establishes heaven. Then, only Bharat will remain and everything else will have been destroyed. Even this much doesn’t sit in people’s intellects. The Father says: Children, become My helpers and I will make you into the masters of heaven. When children have courage, the Father helps. It is remembered: There are the helpers of God. In fact, that is the physical Salvation Army. You are the true, spiritual, Salvation Army. You mothers of Bharat, incarnations of Shakti, are the ones who truly salvage the sinking boat of Bharat. You are an incognito army. Shiv Baba is incognito and His army is also incognito. There is the Shiv Shakti Pandava Army. This is the true story of true Narayan and all the rest are false stories. This is why it is said: See no evil, hear no evil. Only listen to the things I tell you. This is a big and unlimited school. These buildings have been built for this university. At the end, many children will come and stay here. Those who are yogyukt will come and stay here. They will see destruction with their physical eyes. You, who now see establishment and destruction through divine vision, will then be sitting in heaven with those eyes. A very broad and unlimited intellect is needed for this. The more you remember the Father, the more the locks on your intellects will continue to open. If you indulge in vice, the lock will become completely locked. If you leave school, the knowledge will be completely removed from your intellect. When you become impure, you cannot imbibe anything. Effort is required. This is the college for becoming the masters of the world. You Brahma Kumars and Kumaris are the grandsons and granddaughters of Shiv Baba. You are all making Bharat into heaven. You are the spiritual social workers who are making the world pure. The main thing is purity. There was the elevated world and it is now corrupt. This cycle continues to turn. The sapling of the divine tree is now being planted and it will gradually continue to grow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to become the true, spiritual Salvation Army and salvage Bharat from the vices. Become the Father’s helpers and do spiritual social service.
  2. Listen to the truth from only the one Father. Hear no evil, see no evil. In order to see the final scenes with your physical eyes, become yogyukt.
Blessing: May you always be cheerful and remain beyond good and bad attractions with your sanskars of easiness.
Let your sanskars be so easy that you remain easy while carrying out any task. If your sanskars are tight, then the circumstances would also be tight. Then, those who have a connection or relationship with you will be tight in their interaction with you. Tight means to be caught up in a tug of war and so, while observing every scene of the drama, stay beyond any attraction of good and bad with your sanskars of easiness. When neither goodness nor anything bad attracts you, you will then be able to remain cheerful.
Slogan: Those who are full of all attainments are ignorant of the knowledge of desire.

*** Om Shanti ***

Elevated versions of Mateshwariji

The s oundless chant means constant unbroken yoga.

When you say “om shanti”, its true meaning is “I, the soul, am a child of the Supreme who is a form of light. I, too, am a point of light, with a form the same as the Supreme’s. Otherwise, we are saligram children and so we have to have yoga with our God, the form of light. We have to have yoga with Him and claim our inheritance of light and might from Him, and this is why in the Gita there are the elevated versions of God Himself: Manmanabhav! Just as I, your Father, am a point of light, so you children also have to stabilise yourselves in the incorporeal form. This is known as the soundless, unending chant. “The soundless chant” means that without having any mantra, you have to stay in natural remembrance of the Supreme. This is known as complete yoga. “Yoga” means to stay in remembrance of the one Yogeshwar, the Supreme Soul. So, the souls who stay in remembrance of the Supreme Soul are called yogis and yoginis. Only when you constantly stay in this yoga or remembrance, can the burden of your sins be removed and you souls can become pure, due to which you receive the deity reward in your future birth. Now, you need this knowledge for only then can you have complete yoga. So, consider yourself to be a soul and stay in remembrance of the Supreme Soul: this is true knowledge. It is only with this knowledge that you can have yoga. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 October 2018

To Read Murli 7 October 2018 :- Click Here
08-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सदा खुशी में तब रह सकेंगे जब पूरा निश्चय होगा कि हम भगवानुवाच ही सुनते हैं, स्वयं भगवान हमें पढ़ा रहे हैं”
प्रश्नः- ड्रामा अनुसार इस समय सभी प्लैन क्या बनाते हैं और तैयारी कौन सी करते हैं?
उत्तर:- इस समय सभी प्लैन बनाते हैं इतने साल में इतना अनाज पैदा करेंगे। नई दिल्ली, नया भारत होगा। लेकिन तैयारियां मौत की करते रहते हैं। सारी दुनिया के गले में मौत का हार पड़ा हुआ है। कहावत है नर चाहत कुछ और, भई कुछ औरे की और….. बाप का प्लैन अपना है, मनुष्यों का प्लैन अपना है।
गीत:- किसी ने अपना बना के मुझको…… 

ओम् शान्ति। निराकार भगवानुवाच ब्रह्मा तन द्वारा। यह पहली बात तो पक्की कर लेनी चाहिए कि यहाँ कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते, निराकार भगवान् पढ़ाते हैं। उनको हमेशा परमपिता परमात्मा शिव कहा जाता है। बनारस में शिव का मन्दिर भी है ना। पहले-पहले आत्मा को यह निश्चय होना चाहिए कि बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं। जब तक यह निश्चय नहीं तो मनुष्य कोई काम का नहीं है। कौड़ी तुल्य है। बाप को जानने से हीरे तुल्य बन जाते हैं। कौड़ी तुल्य भी भारत के मनुष्य बनते हैं, हीरे तुल्य भी भारत के मनुष्य बनते हैं। बाप आकर मनुष्य से देवता बनाते हैं। पहले जब तक यह निश्चय नहीं है कि भगवान् पढ़ाते हैं, वह जैसे कि इस कॉलेज में बैठते भी कुछ नहीं समझते हैं। वह खुशी का पारा नहीं चढ़ता। वह है हमारा मोस्ट बिलवेड बाप, जिसको भक्ति मार्ग में दु:ख के समय पुकारते थे – हे परमात्मा, रहम करो। यह आत्मा कहती है, मनुष्य तो समझते नहीं कि लौकिक बाप होते हुए भी हम कौन-से बाप को याद करते हैं? आत्मा मुख द्वारा कहती है यह हमारा लौकिक बाप है, यह हमारा पारलौकिक बाप है। तुम अब देही-अभिमानी बने हो, बाकी मनुष्य हैं देह-अभिमानी। उनको आत्मा और परमात्मा का पता ही नहीं है। हम आत्मायें उस परमपिता परमात्मा के बच्चे हैं – यह ज्ञान कोई को भी नहीं है। बाप पहले-पहले यह निश्चय कराते हैं भगवानुवाच, मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। तुम देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध हैं, उनको भूल अपने को आत्मा निश्चय कर मुझ बाप को याद करो। कोई मनुष्य वा कृष्ण आदि ऐसे कह न सकें। यह है ही झूठी माया, झूठी काया, झूठा सब संसार। एक भी सच्चा नहीं। सचखण्ड में फिर एक भी झूठा नहीं होता। यह लक्ष्मी-नारायण सचखण्ड के मालिक थे, पूज्य थे। अभी भारतवासी धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन पड़े हैं इसलिए नाम ही है भ्रष्टाचारी भारत। श्रेष्ठाचारी भारत सतयुग में होता है। वहाँ सब सदैव मुस्कराते हैं, कभी बीमार, रोगी नहीं होते। यहाँ भल कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। परन्तु जानते कोई भी नहीं हैं। इस समय का राज्य भी मृगतृष्णा के समान है। एक हिरण की कहानी है ना – पानी समझ अन्दर गया और दलदल में फँस गया। तो इस समय है दुबन का राज्य। जितना श्रृंगारते हैं उतना और ही गिरते जाते हैं। कहते रहते हैं भारत में अनाज बहुत होगा, यह होगा…….। होता कुछ भी नहीं। इसको कहा जाता है – नर चाहत कुछ और, और की और भई। बाप कहते हैं यह कोई राज्य नहीं है। राज्य तो उनको कहा जाए जहाँ कोई किंग-क्वीन हो। यह तो प्रजा का प्रजा पर राज्य है। इरिलीजस, अनराइटियस राज्य है। भारत में तो आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था। अभी तो कितने धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन गये हैं। ऐसा और कोई देश नहीं जो अपने धर्म को नहीं जानते हो। कहा भी जाता है रिलीजन इज माइट। देवताओं का तो सारे विश्व पर राज्य था, अभी तो बिल्कुल ही कंगाल हैं। कितनी बाहर से मदद ले रहे हैं। उन्हों को है बाहुबल की मदद, तुमको है योगबल की मदद। तुम बच्चे जानते हो मोस्ट बिलवेड बाप है जिससे हमको 21 जन्म के लिए सदा सुख का वर्सा मिलता है। वहाँ कभी दु:ख की, रोने आदि की बात ही नहीं। कभी अकाले मृत्यु नहीं होती। न तो आजकल के मुआफिक इकट्ठे 4-5 बच्चे पैदा करते हैं, एक तरफ देखो खाने के लिए नहीं है, कहते हैं बर्थ कन्ट्रोल करो। नर चाहत कुछ और….। समझते हैं न्यु देहली, नया राज्य है। परन्तु है कुछ भी नहीं। मौत सबके गले में पड़ा है। मौत की पूरी तैयारी कर रहे हैं। बरोबर 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक यह वही महाभारत लड़ाई है। बाप कहते हैं यह तो कोई राज्य नहीं है, यह मृगतृष्णा मिसल है। द्रोपदी का भी मिसाल है ना। तुम सब द्रोपदियां हो। बाप का तुमको फ़रमान है कि इन विकारों पर जीत पहनो। हम प्रतिज्ञा करते हैं – हम सदा पवित्र रह भारत को पवित्र बनायेंगे। यह पुरुष लोग पवित्र रहने नहीं देते। कई गुप्त गोपिकायें कितना पुकारती हैं कि यह हमको मारते हैं।

तुम जानते हो यह काम महाशत्रु तो मनुष्य को आदि, मध्य, अन्त दु:ख देने वाला है। बाप कहते हैं इस पर तुम्हें जीत पानी है। गीता में भी है भगवानुवाच, काम महाशत्रु है। परन्तु मनुष्य समझते नहीं। बाप कहते हैं पवित्र बनो तब तुम राजाओं का राजा बनेंगे। अब बताओ, राजाओं का राजा बनना है या पतित बनना है? यह एक अन्तिम जन्म बाप कहते हैं मेरे ख़ातिर पवित्र बनो। अपवित्र दुनिया का विनाश, पवित्र दुनिया की स्थापना हो जायेगी। आधाकल्प तुमने विष पीते-पीते इतना दु:ख देखा है, तुम एक जन्म यह नहीं छोड़ सकते हो? अब पुरानी दुनिया का विनाश और नई दुनिया की स्थापना हो रही है। इसमें जो पवित्र बनेंगे और बनायेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। यह राजयोग है। तुम कहते हो हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं तो बरोबर प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान भी हैं। ब्रह्मा शिव का बच्चा है, तुमको वर्सा देने वाला शिव है। यह इनकारपोरियल गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। वह हेविन स्थापन करने वाला, वर्सा देने वाला शिव है। वही गॉड फादर ब्लिसफुल, नॉलेजफुल बाप बैठ पढ़ाते हैं। परन्तु जब देह-अभिमान निकले तब बुद्धि में बैठे। त़कदीर में नहीं है तो फिर धारणा नहीं होती। बरोबर जगत पिता के तुम बच्चे हो। ब्रह्माकुमार-कुमारियां राजयोग सीख रहे हैं। तुम्हारा ही यादगार खड़ा है। कितना अच्छा मन्दिर है! उनका अर्थ तुम बच्चों के सिवाए कोई भी नहीं जानते। पूजा करते, माथा टेकते सब पैसे गँवा दिये। अभी बिल्कुल ही कौड़ी तुल्य बन गये हैं। खाने के लिए अन्न नहीं। अब कहते हैं बच्चे कम पैदा करो। यह कोई मनुष्य की त़ाकत नहीं जो कह सके कि काम महाशत्रु है। यह तो जितना कहेंगे कम पैदा करो उतना ही जास्ती पैदा करेंगे। कोई की ताकत चल नहीं सकती।

तुम बच्चों को पहले-पहले यह बात समझानी है कि यह गॉड फादरली युनिवर्सिटी है, भगवान् एक है। यह एक ही चक्र है जो फिरता रहता है। यह समझने की बातें हैं। मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी यह रूहानी यात्रा का राज़ समझाना है। जिस्मानी यात्रा तो जन्म-जन्मान्तर की, यह रूहानी यात्रा एक ही बार होती है। सबको वापिस जाना है। कोई भी पतित यहाँ रहना नहीं है। अभी कयामत का समय है। इतने जो करोड़ों मनुष्य हैं, यह सब तो सतयुग में नहीं होंगे, वहाँ बहुत थोड़े होंगे। सबको वापिस जाना है। बाप आये ही हैं ले जाने – जब तक यह नहीं समझते हैं तब तक स्वीट होम और सुखधाम याद पड़ नहीं सकता। याद करना तो बहुत सहज है। बाप कहते हैं स्वीट होम चलो। मेरे सिवाए तुमको कोई ले नहीं जा सकता। मैं ही कालों का काल हूँ। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। परन्तु वन्डर है इतने वर्षों से रहते हुए भी धारणा नहीं होती। कोई तो बहुत होशियार हो जाते, कोई कुछ भी नहीं समझते। इसका मतलब यह नहीं कि पुरानों का ही ऐसा हाल है तो हमारा क्या होगा? नहीं, स्कूल में सभी नम्बरवन थोड़ेही होंगे। यहाँ भी नम्बरवार हैं। सबको समझाना है – बेहद के बाप से वर्सा लेने का अभी समय है। 21 जन्म के लिए सदा सुख का वर्सा पाना है। कितने ब्रह्माकुमार-कुमारियां पुरुषार्थ कर रहे हैं। नम्बरवार तो होते ही हैं।

तुम जानते हो पतित-पावन एक ही बाप है। बाकी सब हैं पतित। बाप कहते हैं सबका सद्गति दाता एक है, वही स्वर्ग की स्थापना करते हैं। फिर सिर्फ भारत ही रहेगा, बाकी सब विनाश हो जायेंगे। मनुष्यों की बुद्धि में इतनी बात भी नहीं बैठती है। बाप कहते हैं – बच्चे, मेरे मददगार बनो तो मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाऊंगा। हिम्मते मर्दा, मददे खुदा। गाते तो हैं खुदाई खिदमतगार। वास्तव में वह है जिस्मानी सैलवेशन आर्मी। सच्चे-सच्चे रूहानी सैलवेशन आर्मी तुम हो। भारत का बेड़ा जो डूबा हुआ है उनको सैलवेज करने वाली तुम भारत माता शक्ति अवतार हो। तुम गुप्त सेना हो। शिवबाबा गुप्त तो उनकी सेना भी गुप्त। शिव शक्ति, पाण्डव सेना। सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा यह है, बाकी सब हैं झूठी कथायें इसलिए कहते हैं सी नो ईविल, हियर नो ईविल, मैं जो समझाता हूँ वह सुनो।

यह है बेहद का बड़ा स्कूल। इस युनिवर्सिटी के लिए यह मकान बनाये हैं, पिछाड़ी में यहाँ बच्चे आकर रहेंगे। जो योगयुक्त होंगे वह आकर रहेंगे। इन आंखों से विनाश देखेंगे। जो स्थापना तथा विनाश का साक्षात्कार तुम अभी दिव्य दृष्टि से देखते हो फिर तो तुम स्वर्ग में इन आंखों से बैठे होंगे। इसमें बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। जितना बाप को याद करेंगे उतना बुद्धि का ताला खुलता जायेगा। अगर विकार में गया तो एकदम ताला बन्द हो जायेगा। स्कूल छोड़ दिया तो फिर ज्ञान बुद्धि से एकदम निकल जायेगा। पतित बना फिर धारणा हो न सके। मेहनत है। यह कॉलेज है – विश्व का मालिक बनने लिए। यह ब्रह्माकुमार-कुमारियां शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियां हैं। यह अब भारत को स्वर्ग बना रहे हैं। यह रूहानी सोशल वर्कर्स हैं जो दुनिया को पावन बना रहे हैं। मुख्य है ही प्योरिटी। श्रेष्ठाचारी दुनिया थी, अभी भ्रष्टाचारी है। यह चक्र फिरता रहता है। यह दैवी झाड़ का सैपलिंग लग रहा है जो आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि को पायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चे-सच्चे रूहानी सैलवेशन आर्मी बन भारत को विकारों से सैलवेज करना है। बाप का मददगार बन रूहानी सोशल सेवा करनी है।

2) एक बाप से ही सत्य बातें सुननी है। हियर नो ईविल, सी नो ईविल……..इन आंखों से पिछाड़ी की सीन देखने के लिए योगयुक्त बनना है।

वरदान:- सरल संस्कारों द्वारा अच्छे, बुरे की आकर्षण से परे रहने वाले सदा हर्षितमूर्त भव
अपने संस्कारों को ऐसा इज़ी (सरल) बनाओ तो हर कार्य करते भी इज़ी रहेंगे। यदि संस्कार टाइट हैं तो सरकमस्टांश भी टाइट हो जाते हैं, सम्बन्ध सम्पर्क वाले भी टाइट व्यवहार करते हैं। टाइट अर्थात् खींचातान में रहने वाले इसलिए सरल संस्कारों द्वारा ड्रामा के हर दृश्य को देखते हुए अच्छे और बुरे की आकर्षण से परे रहो, न अच्छाई आकर्षित करे और न बुराई – तब हर्षित रह सकेंगे।
स्लोगन:- जो सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न है वही इच्छा मात्रम् अविद्या है।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

”अजपाजाप अर्थात् निरंतर योग अटूट योग” 4-2-57

जिस समय ओम् शान्ति कहते हैं तो उसका यथार्थ अर्थ है मैं आत्मा उस ज्योति स्वरूप परमात्मा की संतान हैं, हम भी उस पिता ज्योतिर्बिन्दू परमात्मा के मुआफिक आकार वाली हैं। बाकी हम सालिग्राम बच्चे हैं तो हमे अपने ज्योति स्वरूप परमात्मा के साथ योग रखना है, उससे ही योग रखकर लाइट माइट का वर्सा लेना है, तभी तो गीता में स्वयं भगवान के महावाक्य हैं, मनमनाभव। मुझ ज्योति स्वरूप पिता के समान तुम बच्चे भी निराकारी स्वरूप में स्थित हो जाओ, इसको ही अजपाजाप कहा जाता है। अजपाजाप माना कोई भी मंत्र जपने के सिवाए नेचुरल उस परमात्मा की याद में रहना, इसको ही पूर्ण योग कहते हैं। योग का मतलब है एक ही योगेश्वर परमात्मा की याद में रहना। तो जो आत्मायें उस परमात्मा की याद में रहती हैं, उन्हों को योगी अथवा योगिनियां कहा जाता है। जब उस योग अर्थात् याद में निरंतर रहें तब ही विकर्मों और पापों का बोझ नष्ट हो और आत्मायें पवित्र बनें, जिससे फिर भविष्य जन्म में देवताई प्रालब्ध मिले। अब यह चाहिए नॉलेज तब ही योग पूरा लग सकता है। तो अपने को आत्मा समझ परमात्मा की याद में रहना, यह है सच्चा ज्ञान। इस ज्ञान से ही योग लगता है। अच्छा। ओम् शान्ति।

Font Resize