daily murli 8 november

TODAY MURLI 8 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 November 2020

08/11/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
01/10/87

God’s love is the foundation for transformation in life.

Today, the Ocean of Love has come to meet His loving children. The love of the Father and the children is tying the world in the thread of love. When the meeting of the Ocean of Love and the rivers full of love takes place, the rivers full of love also become master oceans of love, like the Father. This is why souls of the world are automatically continuing to come close with the experience of love. No matter how unknowing souls are, how stone-like they may have become through being deprived of the love of the family for a long time, with pure love and God’s love, even such stone-like souls, with the love of the Godly family, melt and become like water. This is the wonder of the love of the Godly family. No matter how much they may keep themselves aside, Godly love automatically pulls them like a magnet and brings them close. This is called the practical fruit of God’s love. No matter how much some consider themselves to be on a different path, God’s love makes them co-operative and ties them with the thread, “We are all one” and enables them to move forward. You had this experience, did you not?

Love first of all makes them co-operative. By gradually making them co-operative, in time it will automatically make them easy yogis. The sign of being co-operative is that, today, they are co-operative and, tomorrow, they will become easy yogis. God’s love is the foundation for transformation, that is, it is the seed for transformation in life. Souls who have the seed of experiencing God’s love in them automatically make the tree of being co-operative grow and, at the right time, the fruit of becoming easy yogis will be visible because the seed of transformation definitely bears fruit. It is just that some fruit emerges quickly, whereas other fruit emerges at its own time. Just see, everywhere what all of you master oceans of love, you world server children, are doing! You are sowing seeds of love of the Godly family in the world. Wherever you go, whether someone is an atheist or a theist, even if he doesn’t know or accept the Father, he definitely feels that he cannot receive anywhere else such love as that of the Godly family, which he receives from you Brahma Kumars and Kumaris, who belong to Shiva’s clan. He would also accept that this love and affection is not ordinary, that this is unique love, that it is Godly love. So, from being an atheist he has indirectly become a theist, has he not? Since it is Godly love, where did it come from? The rays automatically prove the existence of the sun. Godly love, unique, spiritual love and altruistic love automatically prove the existence of the Father, the Bestower. Because they experience Godly love, their relationship is indirectly forged with the Father, the Ocean of Love, but they don’t know this because the Seed is at first incognito, whereas the tree is clearly visible. So, the seed of Godly love is making all of you reveal yourselves as co-operative and easy yogis in a practical way, according to the time and it will continue to do so. So, all of you did the service of sowing the seed of God’s love. You also practically saw the two special leaves – good wishes and pure feelings – that make them co-operative. This trunk will now grow and show the practical fruit.

BapDada is pleased to see the variety of service of all the children. Whether they are children who give lectures, children who do physical service, success in service is achieved with everyone’s co-operation. Whether it is someone on guard duty or someone who looks after the dishes, with the co-operation of all five fingers, no matter how big or how elevated a task may be, it is easily accomplished. In the same way, with the co-operation of every Brahmin child, every task has ended up being a thousand times easier than you had thought. Whose wonder is this? Everyone’s. Whoever was co-operative in this task, whether you maintained cleanliness, whether you wiped the tables, the result of everyone’s co-operation has been successful. The power of this gathering is great. BapDada saw that this wasn’t just because of the children who came to Madhuban, for even those who were not present here in the physical form, all the Brahmin children from everywhere, from this land and abroad, co-operated with good wishes and pure feelings in their mind. This fortress of the good wishes and pure feelings of all the souls brings about transformation in souls, whether it is the Shaktis or the Pandavas who were instruments for this. Of course special servers become instruments in every task, but the fortress of the atmosphere is only created with everyone’s co-operation. BapDada is congratulating the children who were the instruments but He is most of all congratulating all the children. What congratulations could you children give to the father, because he has become avyakt? He made you children the instruments in the physical form. This is why BapDada constantly sings the songs of only you children. You sing songs of the Father and the Father sings songs of you.

Whatever you did, you did very well. Those who gave lectures gave good lectures, those who decorated the stage decorated it well and those who prepared the food, those who served the food and those who cut the vegetables were especially yogyukt. The first foundation is that of cutting vegetables. If the vegetables were not cut, what food would be prepared? Those from all departments were instruments for all-round service. You were told that, if those who maintain the cleanliness didn’t keep everything clean, there wouldn’t have been that impact. If each one’s face was not full of God’s love, then how could there have been success in service? Whatever work each one of you did, you filled it with love and did it. This is why the seed of love was sown in them. You did it with zeal and enthusiasm and that was why others also had zeal and enthusiasm. While there was diversity, because of the thread of love, they only spoke of unity. This was the speciality of the canopy of the atmosphere. The atmosphere becomes a canopy of protection. So, because of being under the canopy of protection, no matter what type of sanskars they had, they were absorbed by the influence of love. Do you understand? All of you had the greatest of all duties (responsibilities). All of you did service. No matter how much they wanted to speak of something else, they were unable to do so because of the atmosphere. Even if they thought something in their minds, they were unable to speak about it, because, seeing the practical transformation in the lives of all of you, they also automatically continued to be inspired to bring about transformation. You saw the practical proof, did you not? Even more powerful than the proof of the scriptures is practical proof. All other types of proof become merged in front of practical proof. This was the result of service. Even now, if you continue to bring them closer with the speciality of the co-operation of love, they will continue to move forward even more in their co-operation. Nevertheless, only when there is co-operation from all authorities will the sound of revelation be heard loudly.

Only when all the special authorities come together and speak out loud with one voice will the curtain of revelation open in front of the world. So, the plans for service you have made at present are for this purpose, are they not? If people from all fields, that is, all the authorities, connect with us and are co-operative and loving, they will form a relationship and become easy yogis. If even one authority does not co-operate, how would the task that you have undertaken of “Global Co-operation” be successful?

The foundation of the special authorities has now been laid. The field of religion is a very great authority, is it not? The foundation has now begun with that special authority. You saw the effect of love, did you not? What were people saying? “How are you able to invite so many of them together (first conference of all the mahamandleshwars from India) here?” Those people were also wondering this, were they not? However, there was the one thread of God’s love, and this was why, even though they had diverse opinions, there was just the one thought of being co-operative. Similarly, make those of all professions co-operative in the same way. They are becoming that but bring them even closer and make them co-operative more because the Golden Jubilee has now ended, and so you have come even closer to revelation now. The Diamond Jubilee means to make the sound of revelation be heard loud and clearly. So, this year, the curtain of revelation has started to open. On the one hand, there was revelation in Bharat through the lands abroad, and on the other side, there was the success of the great task of the mahamandleshwars. Abroad, the United Nations became the instrument; they are especially very well known. In Bharat, it is the authority of religion that is very well known. So, to bring about revelation of the dharamatmas through the authority of religion is to begin to open the curtain of revelation. As yet, it has only just begun to open; it is still to open. It hasn’t opened fully, it has only just begun to open. The children abroad were instruments for that task; that was also a special task. In the special task of revelation, you became instruments for this task. BapDada is giving special congratulations to the children abroad for being the instruments to play the hero part in this final revelation. You created upheaval in Bharat, did you not? The sound reached everyone’s ears. This sound from abroad at least became instrumental in awakening the Kumbhakarnas of Bharat. However, as yet, the sound has only just been heard; they still have to be woken up. You have to get them up. The sound has only just reached their ears. When a sound reaches someone who is sleeping, he stirs a little; there is a little movement. So, the movement has been created. In the movement, they have woken a little and they understand that there is something in this. They will awaken when you make a louder sound. The sound now was a little louder than before. In the same way, it will be a wonder when all the authorities have a sneh-milan (loving meeting) together on the stage. When the revelation of God’s task begins with all the souls of all the authorities, the curtain of revelation will then open fully. This is why you have to keep the aim in the programme that you are now making, that there should be a sneh-milan of all authorities. A sneh-milan of all authorities can take place. For instance, when you call the ordinary sages, that is not a big thing, but you called all the mahamandleshwars. In fact, there would have been greater splendour in this gathering if Shankaracharya had come. However, his fortune will also open now. He is at least internally co-operative. Children have worked very hard, but people’s opinions have to be considered. The day will also come when those of all authorities will say together that the most elevated authority, the Godly authority, the spiritual authority, is the authority of the one God. This is why you have made a plan for a long period, have you not? You have been given all this time, so that you can tie everyone in the thread of love and bring them close. This love will become a magnet, so that all of them will come together on to the Father’s stage as a group. You have made such a plan, have you not? Achcha.

You servers have received the practical fruit of all the service you did. Otherwise, it is now the turn of the new ones to meet Baba. All of you have now reached the stage of retirement whilst continuously celebrating meetings. You are now giving your younger brothers and sisters their turn. It is because you became those who are in the stage of retirement that you gave a chance to others. Of course everyone’s desires will continue to increase. Everyone will say that they should even now have a chance to meet Baba. The more you receive, the more your desire will increase. What will you then do? To give a chance to others means to experience yourself to be fully satisfied because the older ones are experienced. You are embodiments of attainments. Souls who are embodiments of attainments are those who have good wishes for everyone, the ones who keep others in front. Or, do you feel that you should also meet now? You have to be altruistic in this too. You are sensible. You are those who understand the beginning, the middle and the end. You also understand the time. You understand the influence of matter. Each of you also understands your part. BapDada too always wants to meet you children. If the children want to meet, it is because the Father wants to meet you first, and this is why you children also want to meet. However, the Father also has to consider the time and matter. When He comes into this world, He has to consider everything of this world. When He is far from here, in the subtle region, then there is no problem of water, time, or accommodation there. Those from Gujarat live close. So you have also received the fruit of that, have you not? It is a speciality of those from Gujurat that they always remain everready. You have made the lesson of “Ha ji” (Yes indeed) very firm, and you stay wherever you are given a place to stay. You also have the speciality of remaining happy in all circumstances. There is good growth in Gujarat. The enthusiasm for service makes you free from obstacles and also brings benefit to others. There is also success in having the feeling of serving. If the feeling of “I” is mixed in doing service, that would not be called the motivation to serve. The feeling of serving brings success. If the feeling of “I” is mixed with it, it takes more hard work and more time and you yourself are not even content. Children who have the motivation to serve move forward themselves and also enable others to move forward. You constantly experience the flying stage. You have good courage. Where there is courage, BapDada always helps in every task.

The maharathis are great donors anyway. You maharathis who have come to do service, are you all great donors and bestowers of blessings? To give others a chance is also a great donation, a blessing. All the long-lost and now-found children are always co-operative in playing their parts according to the time, and will continue to be so. Of course, there will be the desire because this is a pure desire. However, you also know how to merge it. This is why all of you are always content.

BapDada too wants to celebrate a meeting with every child and for there to be no time restrictions. However, all these restrictions have to be considered in the world of you people. Otherwise, if BapDada were to sing the praise of each special jewel, it would be so elevated. At least one song of each child’s specialities can be composed, but… This is why Baba asks you to go to the subtle region where there are no restrictions.

To all the children who are merged in God’s love, to those who are co-operative with everyone at every second, to those who remove the curtain of revelation and reveal the Father to the world, to all the souls who become images that attract and become the embodiments who give the practical proof, to those who are always co-operative in the Father’s and everyone’s task and who glorify the name of the One, to such children who become the special deities of the world, to the special children of the world, BapDada’s deep love and remembrance. Together with that, to all the children from this land and abroad who are close and who come in front of the Father with love, please accept congratulations for your service and also special love and remembrance from BapDada.

Blessing: May you become a detached observer like a lotus and, with the speciality of being knowledge-full, save yourself from any conflict of sanskars.
Until the end, some will have the sanskars of a maid and others will have the sanskars of a king. Do not wait for their sanskars to change, but let there not be anyone’s influence over you because, firstly, each one’s sanskars are different and, secondly, they come as a form of Maya. Therefore, take any decision while staying within the line of the codes of conduct. While having different sanskars, let there not be any conflict. For this, become knowledge-full and a detached observer, like a lotus.
Slogan: Instead of being stubborn and working hard, make effort with entertainment.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

08-11-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 01-10-87 मधुबन

ईश्वरीय स्नेह – जीवन परिवर्तन का फाउण्डेशन है

आज स्नेह के सागर अपने स्नेही बच्चों से मिलने आये हैं। बाप और बच्चों का स्नेह विश्व को स्नेह सूत्र में बांध रहा है। जब स्नेह के सागर और स्नेह सम्पन्न नदियों का मेल होता है तो स्नेह-भरी नदी भी बाप समा न मास्टर स्नेह का सागर बन जाती है इसलिए विश्व की आत्मायें स्नेह के अनुभव से स्वत: ही समीप आती जा रही हैं। पवित्र प्यार वा ईश्वरीय परिवार के प्यार से – कितनी भी अन्जान आत्मायें हों, बहुत समय से परिवार के प्यार से वंचित पत्थर समान बनने वाली आत्मा हो लेकिन ऐसे पत्थर समान आत्मायें भी ईश्वरीय परिवार के स्नेह से पिघल पानी बन जाती है। यह है ईश्वरीय परिवार के प्यार की कमाल। कितना भी स्वयं को किनारे करे लेकिन ईश्वरीय प्यार चुम्बक के समान स्वत: ही समीप ले आता है। इसको कहते हैं ईश्वरीय स्नेह का प्रत्यक्षफल। कितना भी कोई स्वयं को अलग रास्ते वाले मानें लेकिन ईश्वरीय स्नेह सहयोगी बनाए ‘आपस में एक हो’ आगे बढ़ने के सूत्र में बांध देता है। ऐसा अनुभव किया ना।

स्नेह पहले सहयोगी बनाता है, सहयोगी बनाते-बनाते स्वत: ही समय पर सर्व को सहजयोगी भी बना देता है। सहयोगी बनने की निशानी है – आज सहयोगी हैं, कल सहजयोगी बन जायेंगे। ईश्वरीय स्नेह परिवर्तन का फाउन्डेशन (नींव) है अथवा जीवन-परिवर्तन का बीजस्वरूप है। जिन आत्माओं में ईश्वरीय स्नेह की अनुभूति का बीज पड़ जाता है, तो यह बीज सहयोगी बनने का वृक्ष स्वत: ही पैदा करता रहेगा और समय पर सहजयोगी बनने का फल दिखाई देगा क्योंकि परिवर्तन का बीज फल जरूर दिखाता है। सिर्फ कोई फल जल्दी निकलता है, कोई फल समय पर निकलता है। चारों ओर देखो, आप सभी मास्टर स्नेह के सागर, विश्व-सेवाधारी बच्चे क्या कार्य कर रहे हो? विश्व में ईश्वरीय परिवार के स्नेह का बीज बो रहे हो। जहाँ भी जाते हो – चाहे कोई नास्तिक हो वा आस्तिक हो, बाप को न भी जानते हों, न भी मानते हों लेकिन इतना अवश्य अनुभव करते हैं कि ऐसा ईश्वरीय परिवार का प्यार जो आप शिववंशी ब्रह्माकुमार/ब्रह्माकुमारियों से मिलता है, यह कहीं भी नहीं मिलता और यह भी मानते हैं कि यह स्नेह वा प्यार साधारण नहीं है, यह अलौकिक प्यार है वा ईश्वरीय स्नेह है। तो इन्डायरेक्ट नास्तिक से आस्तिक हो गया ना। ईश्वरीय प्यार है, तो वह कहाँ से आया? किरणें सूर्य को स्वत: ही सिद्ध करती हैं। ईश्वरीय प्यार, अलौकिक स्नेह, नि:स्वार्थ स्नेह स्वत: ही दाता बाप को सिद्ध करता ही है। इन्डायरेक्ट ईश्वरीय स्नेह के प्यार द्वारा स्नेह के सागर बाप से सम्बन्ध जुट जाता है लेकिन जानते नहीं हैं क्योंकि बीज पहले गुप्त रहता है, वृक्ष स्पष्ट दिखाई देता है। तो ईश्वरीय स्नेह का बीज सर्व को सहयोगी सो सहजयोगी, प्रत्यक्षरूप में समय प्रमाण प्रत्यक्ष कर रहा है और करता रहेगा। तो सभी ने ईश्वरीय स्नेह के बीज डालने की सेवा की। सहयोगी बनाने की शुभ भावना और शुभ कामना के विशेष दो पत्ते भी प्रत्यक्ष देखे। अभी यह तना वृद्धि को प्राप्त करते प्रत्यक्षफल दिखायेगा।

बापदादा सर्व बच्चों के वैराइटी (भिन्न-भिन्न) प्रकार की सेवा को देख हर्षित होते हैं। चाहे भाषण करने वाले बच्चे, चाहे स्थूल सेवा करने वाले बच्चे – सर्व के सहयोग की सेवा से सफलता का फल प्राप्त होता है। चाहे पहरा देने वाले हों, चाहे बर्तन सम्भालने वाले हों लेकिन जैसे पांच अंगुलियों के सहयोग से कितना भी श्रेष्ठ कार्य, बड़ा कार्य सहज हो जाता है, ऐसे हर एक ब्राह्मण बच्चों के सहयोग से जितना सोचा था कि ऐसा होगा, उस सोचने से हजार गुणा ज्यादा सहज कार्य हो गया। यह किसकी कमाल है? सभी की। जो भी कार्य में सहयोगी बने – चाहे स्वच्छता भी रखी, चाहे टेबल (मेज) साफ किया लेकिन सर्व के सहयोग की रिजल्ट (परिणाम) सफलता है। यह संगठन की शक्ति महान् है। बापदादा देख रहे थे – न सिर्फ मधुबन में आने वाले बच्चे लेकिन जो साकार में भी नहीं थे, चारों ओर के ब्राह्मण बच्चों की, चाहे देश, चाहे विदेश – सबके मन की शुभ भावना और शुभ कामना का सहयोग रहा। यह सर्व आत्माओं की शुभ भावना, शुभ कामना का किला आत्माओं को परिवर्तन कर लेता है। चाहे निमित्त शक्तियाँ भी रहीं, पाण्डव भी रहे। निमित्त सेवाधारी विशेष हर कार्य में बनते ही हैं लेकिन वायुमण्डल का किला सर्व के सहयोग से ही बनता है। निमित्त बनने वाले बच्चों को भी बापदादा मुबारक देते हैं, लेकिन सबसे ज्यादा मुबारक सभी बच्चों को। बाप को बच्चे मुबारक क्या देंगे क्योंकि बाप तो अव्यक्त हो गया। व्यक्त में तो बच्चों को निमित्त बनाया इसलिए बापदादा सदा बच्चों के ही गीत गाते हैं। आप बाप के गीत गाओ, बाप आपके गीत गाये।

जो भी किया, बहुत अच्छा किया। भाषण करने वालों ने भाषण अच्छे किये, स्टेज सजाने वालों ने स्टेज अच्छी सजाई और विशेष योग-युक्त भोजन बनाने वाले, खिलाने वाले, सब्जी काटने वाले रहे। पहले फाउन्डेशन तो सब्जी कटती है। सब्जी नहीं कटे तो भोजन क्या बनेगा? सब डिपार्टमेन्ट वाले आलराउन्ड (सर्व प्रकार की) सेवा के निमित्त रहे। सुनाया ना – अगर सफाई वाले सफाई नहीं करते तो भी प्रभाव नहीं पड़ता। हर एक का चेहरा ईश्वरीय स्नेह सम्पन्न नहीं होता तो सेवा की सफलता कैसे होती। सभी ने जो भी कार्य किया, स्नेह भरकर के किया इसलिए, उन्हों में भी स्नेह का बीज पड़ा। उमंग-उत्साह से किया, इसलिए उन्हों में भी उमंग-उत्साह रहा। अनेकता होते भी स्नेह के सूत्र के कारण एकता की ही बातें करते रहे। यह वायुमण्डल के छत्रछाया की विशेषता रही। वायुमण्डल छत्रछाया बन जाता है। तो छत्रछाया के अन्दर होने के कारण कैसे भी संस्कार वाले स्नेह के प्रभाव में समाये हुए थे। समझा? सभी की बड़े ते बड़ी ड्यूटी (जिम्मेवारी) थी। सभी ने सेवा की। कितना भी वो और कुछ बोलने चाहें, तो भी बोल नहीं सकते वायुमण्डल के कारण। मन में कुछ सोचें भी लेकिन मुख से निकल नहीं सकता क्योंकि प्रत्यक्ष आप सबकी जीवन के परिवर्तन को देख उन्हों में भी परिवर्तन की प्रेरणा स्वत: ही आती रही। प्रत्यक्ष प्रमाण देखा ना। शास्त्र प्रमाण से भी, सबसे बड़ा प्रत्यक्ष प्रमाण है। प्रत्यक्ष प्रमाण के आगे और सब प्रमाण समा जाते हैं। यह रही सेवा की रिजल्ट। अभी भी उसी स्नेह के सहयोग की विशेषता से और समीप लाते रहेंगे तो और भी सहयोग में आगे बढ़ते जायेंगे। फिर भी प्रत्यक्षता का आवाज बुलन्द तभी होगा, जब सब सत्ताओं का सहयोग होगा।

विशेष सर्व सत्तायें जब मिलकर एक आवाज बुलन्द करें, तब ही प्रत्यक्षता का पर्दा विश्व के आगे खुलेगा। वर्तमान समय जो सेवा का प्लान बनाया है, वह इसलिए ही बनाया है ना। सभी वर्ग वाले अर्थात् सत्ता वाले सम्पर्क में, सहयोग में आयें, स्नेह में आयें तो फिर सम्बन्ध में आकर सहजयोगी बन जायेंगे। अगर कोई भी सत्ता सहयोग में नहीं आती है तो सर्व के सहयोग का जो कार्य रखा है, वह सफल कैसे होगा?

अभी फाउन्डेशन पड़ा विशेष सत्ता का। धर्म सत्ता सबसे बड़े ते बड़ी सत्ता है ना। उस विशेष सत्ता द्वारा फाउन्डेशन आरम्भ हुआ। स्नेह का प्रभाव देखा ना। वैसे लोग क्या कहते थे कि – यह इतने सब इकट्ठे कैसे बुला रहे हो? यह लोग भी सोचते रहे ना। लेकिन ईश्वरीय स्नेह का सूत्र एक था, इसलिए, अनेकता के विचार होते हुए भी सहयोगी बनने का विचार एक ही रहा। ऐसे अभी सर्व सत्ताओं को सहयोगी बनाओ। बन भी रहे हैं लेकिन और भी समीप, सहयोगी बनाते चलो क्योंकि अभी गोल्डन जुबली (स्वर्ण जयन्ती) समाप्त हुई, तो अभी से, और प्रत्यक्षता के समीप आ गये। डायमन्ड जुबली अर्थात् प्रत्यक्षता का नारा बुलन्द करना। तो इस वर्ष से प्रत्यक्षता का पर्दा अभी खुलने आरम्भ हुआ है। एक तरफ विदेश द्वारा भारत में प्रत्यक्षता हुई, दूसरे तरफ निमित्त महामण्डलेश्वरों द्वारा कार्य की श्रेष्ठता की सफलता। विदेश में यू.एन. वाले निमित्त बने, वे भी विशेष नामीग्रामी और भारत में भी नामीग्रामी धर्म सत्ता है। तो धर्म सत्ता वालों द्वारा धर्म-आत्माओं की प्रत्यक्षता हो – यह है प्रत्यक्षता का पर्दा खुलना आरम्भ होना। अजुन खुलना आरम्भ हुआ है। अभी खुलने वाला है। पूरा नहीं खुला है, आरम्भ हुआ है। विदेश के बच्चे जो कार्य के निमित्त बने, यह भी विशेष कार्य रहा। प्रत्यक्षता के विशेष कार्य में इस कार्य के कारण निमित्त बन गये। तो बापदादा विदेश के बच्चों को इस अन्तिम प्रत्यक्षता के हीरो पार्ट में निमित्त बनने के सेवा की भी विशेष मुबारक दे रहे हैं। भारत में हलचल तो मचा ली ना। सबके कानों तक आवाज गया। यह विदेश का बुलन्द आवाज भारत के कुम्भकरणों को जगाने के निमित्त तो बन गया। लेकिन अभी सिर्फ आवाज गया है, अभी और जगाना है, उठाना है। अभी सिर्फ कानों तक आवाज पहुँचा है। सोये हुए को अगर कान में आवाज जाता है तो थोड़ा हिलता है ना, हलचल तो करता है ना। तो हलचल पैदा हुई। हलचल में थोड़े जागे हैं, समझते कि यह भी कुछ हैं। अभी जागेंगे तब जब और जोर से आवाज करेंगे। अभी पहले भी थोड़ा जोर से हुआ। ऐसे ही कमाल तब हो जब सब सत्ता वाले इकट्ठे स्टेज पर स्नेह मिलन करें। सब सत्ता की आत्माओं द्वारा ईश्वरीय कार्य की प्रत्यक्षता आरम्भ हो, तब प्रत्यक्षता का पर्दा पूरा खुलेगा। इसलिए अभी जो प्रोग्राम बना रहे हो उसमें यह लक्ष्य रखना कि सब सत्ताओं का स्नेह मिलन हो। सब वर्गों का स्नेह मिलन तो हो सकता है। जैसे साधारण साधुओं को बुलाते तो कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन यह महामण्डलेश्वरों को बुलाया ना। ऐसे तो शंकराचार्य की भी इस संगठन में और ही शोभा होती। लेकिन अब उसका भी भाग्य खुल जायेगा। अन्दर से तो फिर भी सहयोगी है। बच्चों ने मेहनत भी अच्छी की। लेकिन फिर भी लोक-लाज तो रखनी पड़ती है। वह भी दिन आयेगा जब सभी सत्ता वाले मिल करके कहेंगे कि श्रेष्ठ सत्ता, ईश्वरीय सत्ता, आध्यात्मिक सत्ता है तो एक परमात्म-सत्ता ही है इसलिए लम्बे समय का प्लान बनाया है ना। इतना समय इसलिए मिला है कि सभी को स्नेह के सूत्र में बांध समीप लाओ। यह स्नेह चुम्बक बनेगा जो सब एक साथ संगठन रूप में बाप की स्टेज पर पहुँच जाए। ऐसा प्लान बनाया है ना? अच्छा।

सेवाधारियों को सेवा का प्रत्यक्षफल भी मिल गया। नहीं तो, अभी नम्बर नये बच्चों का है ना। आप लोग तो मिलन मनाते-मनाते अब वानप्रस्थ अवस्था तक पहुँचे हो। अभी अपने छोटे भाई-बहिनों को टर्न दे रहे हो। स्वयं वानप्रस्थी बने तब औरों को चांस दिया। इच्छा तो सबकी बढ़ती ही जायेगी। सब कहेंगे – अभी भी मिलने का चांस मिलना चाहिए। जितना मिलेंगे, उतना और इच्छा बढ़ती जायेगी। फिर क्या करेंगे? औरों को चांस देना भी स्वयं तृप्ति का अनुभव करना है क्योंकि पुराने तो अनुभवी हैं, प्राप्ति-स्वरूप हैं। तो प्राप्ति-स्वरूप आत्मायें सर्व पर शुभ भावना रखने वाले, औरों को आगे रखने वाले हो। या समझते हो हम तो मिल लेवें? इसमें भी नि:स्वार्थी बनना है। समझदार हो। आदि, मध्य, अन्त को समझने वाले हो। समय को भी समझते हो। प्रकृति के प्रभाव को भी समझते हो। पार्ट को भी समझते हो। बापदादा भी सदा ही बच्चों से मिलने चाहते हैं। अगर बच्चे मिलने चाहते तो पहले बाप चाहता, तब बच्चे भी चाहते। लेकिन बाप को भी समय को, प्रकृति को देखना तो पड़ता है ना। जब इस दुनिया में आते हैं तो दुनिया की सब बातों को देखना पड़ता है। जब इनसे दूर अव्यक्त वतन में हैं तो वहाँ तो पानी की, समय की, रहने आदि की प्राबलम (समस्या) ही नहीं। गुजरात वाले समीप रहते हैं। तो इसका भी फल मिला है ना। यह भी गुजरात वालों की विशेषता है, सदैव एवररेडी रहते हैं। ‘हाँ जी’ का पाठ पक्का है और जहाँ भी रहने का स्थान मिले, तो रह भी जाते हैं। हर परिस्थिति में खुश रहने की भी विशेषता है। गुजरात में वृद्धि भी अच्छी हो रही है। सेवा का उमंग-उत्साह स्वयं को भी निर्विघ्न बनाता, दूसरों का भी कल्याण करता है। सेवाभाव की भी सफलता है। सेवा-भाव में अगर अहम्-भाव आ गया तो उसको सेवा-भाव नहीं कहेंगे। सेवा-भाव सफलता दिलाता है। अहम्-भाव अगर मिक्स होता है तो मेहनत भी ज्यादा, समय भी ज्यादा, फिर भी स्वयं की सन्तुष्टी नहीं होती। सेवा-भाव वाले बच्चे सदा स्वयं भी आगे बढ़ते और दूसरों को भी आगे बढ़ाते हैं। सदा उड़ती कला का अनुभव करते हैं। अच्छी हिम्मत वाले हैं। जहाँ हिम्मत है वहाँ बापदादा भी हर समय कार्य में मददगार हैं।

महारथी तो हैं ही महादानी। जो भी महारथी सेवा के प्रति आये हैं, महादानी वरदानी हो ना? औरों को चांस देना – यह भी महादान, वरदान है। जैसा समय, वैसा पार्ट बजाने में भी सब सिकीलधे बच्चे सदा ही सहयोगी रहे हैं और रहेंगे। इच्छा तो होगी क्योंकि यह शुभ इच्छा है। लेकिन इसको समाने भी जानते हैं इसलिए सभी सदा सन्तुष्ट है।

बापदादा भी चाहते हैं कि एक-एक बच्चे से मिलन मनावें और समय की सीमा भी नहीं होनी चाहिए। लेकिन आप लोगों की दुनिया में यह सभी सीमाएं देखनी पड़ती है। नहीं तो, एक-एक विशेष रतन की महिमा अगर गायें तो कितनी बड़ी है। कम से कम एक-एक बच्चे की विशेषता का एक-एक गीत तो बना सकते हैं। लेकिन… इसलिए कहते हैं वतन में आओ जहाँ कोई सीमा नहीं। अच्छा।

सदा ईश्वरीय स्नेह में समाये हुए, सदा हर सेकेण्ड सर्व के सहयोगी बनने वाले, सदा प्रत्यक्षता के पर्दे को हटाए बाप को विश्व के आगे प्रत्यक्ष करने वाले, सदा सर्व आत्माओं को प्रत्यक्ष-प्रमाण-स्वरूप बन आकर्षित करने वाले, सदा बाप और सर्व के हर कार्य में सहयोगी बन एक का नाम बाला करने वाले – ऐसे विश्व के इष्ट बच्चों को, विश्व के विशेष बच्चों को बाप-दादा का अति स्नेह सम्पन्न यादप्यार। साथ-साथ सर्व देश-विदेश के स्नेह से बाप के सामने पहुँचने वाले सर्व समीप बच्चों को सेवा की मुबारक के साथ-साथ बापदादा का विशेष यादप्यार स्वीकार हो।

वरदान:- नॉलेजफुल की विशेषता द्वारा संस्कारों के टक्कर से बचने वाले कमल पुष्प समान न्यारे व साक्षी भव
संस्कार तो अन्त तक किसी के दासी के रहेंगे, किसी के राजा के। संस्कार बदल जाएं यह इन्तजार नहीं करो। लेकिन मेरे ऊपर किसी का प्रभाव न हो क्योंकि एक तो हर एक के संस्कार भिन्न हैं, दूसरा माया का भी रूप बनकर आते हैं इसलिए कोई भी बात का फैंसला मर्यादा की लकीर के अन्दर रहकर करो, भिन्न-भिन्न संस्कार होते हुए भी टक्कर न हो इसके लिए नॉलेजफुल बन कमल पुष्प समान न्यारे व साक्षी रहो।
स्लोगन:- हठ वा मेहनत करने के बजाए रमणीकता से पुरूषार्थ करो।

TODAY MURLI 8 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 November 2019

08/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is the eternal Herbalist. He removes all your sorrow with just the one great mantra.
Question: Why does Maya cause obstacles for you from time to time?
Answer: Because you are Maya’s greatest customers of all. When she sees that she is losing your custom, she puts obstacles in your way. When the eternal Herbalist gives you medicine, all the sicknesses of Maya erupt. Therefore, you must not be afraid of obstacles; Maya will run away from the mantra of “Manmanabhav”.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. People become desperate, constantly asking for peace of mind! They do say “Om shanti” every day but, because they don’t understand the meaning of that, they continue to ask for peace. They even say: I am a soul, which means: I am silence. Our original religion is silence. If your original religion is silence, why do you then need to ask for it? Because they do not understand the meaning of this peace, they keep asking for it. You understand that this is Ravan’s kingdom, but you don’t even understand that Ravan is the enemy of everyone in the whole world in general and Bharat in particular. This is why they continue to burn Ravan’s effigy. Is there any such human being whose effigy is burnt year after year? They have been burning him for birth after birth, cycle after cycle because he is your biggest enemy. Everyone is trapped in the five vices. Everyone’s birth takes place through corruption. Therefore, this is the kingdom of Ravan. At this time, there is limitless sorrow. Who is responsible for this sorrow? Ravan! No one knows the cause of sorrow. This kingdom belongs to Ravan. He is everyone’s greatest enemy. People make an effigy of him every year and burn it. Day by day, they make the effigy larger; sorrow also continues to increase. None of the many great sages, holy men, great souls and rulers etc. know that Ravan, the one they keep burning every year, is their enemy. In fact, they celebrate this festival with even greater happiness. They think that Ravan has died and that they have become the masters of Lanka (kingdom of Ravan). However, they do not become the masters. They spend so much money on that festival. The Father says: I gave you countless wealth; where did you lose it all? At the time of Dashera (the burning of Ravan), they spend hundreds of thousands of rupees. It is shown that Ravan is killed and that Lanka is then looted, but no one understands why they burn Ravan. At this time, everyone is in the jail of these vices. Because they become very unhappy they burn Ravan for half the cycle. They do understand that they have become very unhappy in the kingdom of Ravan, but they don’t understand that the five vices do not exist in the golden age. This burning of Ravan etc. just doesn’t exist there. If you ask them when they started to celebrate that festival, they reply that it has continued since the beginning of time. Ask them when Raksha Bandhan began and they reply that it has continued since the beginning of time. All of these things are matters that have to be understood. What has happened to the intellects of human beings? They are neither like animals nor like human beings; they are of no use at all! They don’t know heaven at all. They think that God created this world, and yet they still remember God at a time of sorrow. They say: “O God, Liberate us from this sorrow!” However, there cannot be happiness in the iron age. They definitely have to experience sorrow; they have to come down the ladder. The Father explains all the secrets of everything from the start of the new world to the end of the old world. When He comes to you children, He says that there is only one medicine that will cure all of this sorrow. He is the eternal Herbalist. He liberates you all from sorrow for 21 births. Here, herbalists themselves become ill. That one is the eternal Herbalist. You also understand that there is limitless sorrow and limitless happiness. The Father gives you limitless happiness. There, there is no name or trace of sorrow. This medicine is only for becoming happy. Simply remember Me and you will become pure and satopradhan; all of your sorrow will be removed. There will then be nothing but happiness. It has also been remembered that the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He removes all your sorrow for half a cycle. You simply have to consider yourselves to be souls and remember the Father. This is a play about souls and bodies. Incorporeal souls are imperishable and corporeal bodies are perishable. The whole play is about this. The Father says: Now forget all the relationships of bodies including those of your own body. Whilst living in your household, have the consciousness that you now have to return home. Impure ones cannot return home. Therefore, constantly remember Me alone and you will become satopradhan. The Father has the medicine. I also tell you that Maya will definitely put obstacles in your way. You are Ravan’s customers; because she is losing your custom, she will definitely become desperate. The Father explains: This knowledge is your study; it is not medicine. Your medicine is the pilgrimage of remembrance. If you constantly make the effort to stay in remembrance of Me, just by taking this one medicine, all of your sorrow will be removed. On the path of devotion, there are many who keep chanting one mantra or another or the name of Rama continuously. They are given a mantra by their guru who tells them to chant it a certain number of times a day. That is known as rotating the rosary using the name of Rama. That is known as making a donation of Rama’s name. There are many such organisations. They keep chanting the name “Rama, Rama”. They remain busy and so they don’t quarrel etc. Even if someone interrupts them and speaks to them, they wouldn’t give a responseHowever, there are very few who do that. The Father says that there is no need to say Rama’s name out loud here. You have the soundless chant here. Simply continue to remember the Father. The Father says: I am not Rama. Rama belonged to the silver age. He is the Rama who had that kingdom. You don’t have to chant his name. The Father explains: Whilst reciting all of that on the path of devotion and performing worship, you have continued to come down the ladder because all of that is unrighteous. Only the one Father is righteous. He sits here and explains to you children. This is the game of the maze. When you remember the Father, the One from whom you receive such an unlimited inheritance, your faces continue to sparkle. Your faces bloom in happiness and there is a constant smile on your lips. You understand that this is what you will become by remembering the Father. All of your sorrow will be removed for half a cycle. It isn’t that Baba will have mercy on you; no. You have to understand that the more you remember the Father, the more satopradhan you will become. Lakshmi and Narayan, the masters of the world, have such cheerful faces. You have to become like them. When you remember the unlimited Father, there is the internal happiness of knowing that you are becoming the masters of the world once again. You souls then carry these sanskars of happiness with yourselves. Then these sanskars gradually decrease. At this time, Maya harasses you a great deal. Maya tries to make you forget to have remembrance of Me. You would not be able to have a constantly cheerful face. You would choke at some point or other. When people become ill, they are told to remember Shiv Baba, but who Shiv Baba is, no one knows. Therefore, with what understanding would they remember Him? Why should they remember Him? You children understand that you will change from tamopradhan to satopradhan by remembering the Father. The deities were satopradhan. That is called the deity world. That is not called the world of human beings. The term “human beings” is not used for there. It is said: “So-and-so deity”. That is the deity world; this is the human world. All of these aspects have to be understood. The Father alone explains these things. He is known as the Ocean of Knowledge. The Father continues to give many varieties of explanation. However, finally, He gives the great mantra. By remembering the Father you will become satopradhan and all your sorrow will be removed. You became deities a cycle ago. Your character was like that of the deities. No one in the golden age says anything wrong; they don’t perform any such acts. That is the deity world and this is the human world; there is a difference. The Father sits here and explains this. Human beings think that the deity world existed hundreds of thousands of years ago. No one now would be called a deity. The deities are pure and clean; the deities are called great souls. Ordinary human beings cannot be given this title. This is the world of Ravan. Ravan is your greatest enemy. There is no other enemy like him. Every year you burn an effigy of Ravan, but no one knows who he is. He is not a human being. He represents the five vices and this is why this is called the kingdom of Ravan. It is the kingdom of the five vices; everyone has these five vices. This play about degradation and salvation is predestined. The Father has explained to you about the time of salvation etc. He has also explained about degradation. You are the ones who ascend so high and you are also the ones who fall down. The birth of Shiva and the birth of Ravan are only celebrated in Bharat. For half a cycle it is the world of the deities, the kingdom of Lakshmi and Narayan and that of Rama and Sita. You children now know everyone’s biography. All the praise refers to you. It is you who are worshipped at the festival of Navratri (the nine nights). You are the ones who bring about the establishment of heaven. You change the world by following shrimat. Therefore, you must follow shrimat fully. Each one of you continues to make effort, numberwise. Heaven is continuing to be established. There is no question of fighting etc. in this. You now understand that this most auspicious confluence age is completely different. It is the end of the old world and the beginning of the new world. The Father comes in order to change the old world. He explains a great deal to you, but many of you forget. After they have given a lecture, they remember everything and think about the points they should have mentioned. The establishment of heaven will take place identically to how it did in the previous cycle. Each of you will claim the same status that you claimed before. You do not all receive an equal status. There are those who will claim the highest status and those who will claim the lowest status. As the special children progress further, they will very much feel which ones will become maids of the wealthy, which ones will become maids of the royal family and which ones will become very wealthy and occasionally beinvited by the royal family. They would not invite everyone; not everyone will be able to see their faces. The Father explains through the mouth of Brahma. Not everyone will be able to see Him in person. You have become pure and have now come personally in front of Baba. What also happens is that impure ones come and sit here; by hearing just a little, they become deities. Even when they only hear a little, there will be some effect. If they didn’t hear, they just wouldn’t come. Therefore, the main thing that the Father says is “Manmanabhav”. All of your sorrow is removed by just this one mantra. Manmanabhav! The Father says this. Then, as the Teacher, He says “Madhyajibhav”. That One is the Father, the Teacher and the Guru. When you remember all three, your stage becomes very cheerful. The Father teaches you and He then becomes the One who takes you back with Him. You should remember such a Father a great deal. No one on the path of devotion knows the Father. They simply know that He is God and that all of us are brothers. People do not know what they are to receive from the Father. You now understand that there is the one Father and that all of you are His children, that you are all brothers. This is an unlimited aspect. As the Teacher, He teaches all of you children. Then, He makes all of you settle all your karmic accounts and takes you back home. You have to leave this dirty world and return home. Baba makes you worthy of going to the new world. Those who become worthy are the ones who go to the golden age. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to maintain a stable and cheerful stage, remember Baba in all three forms: the Father, the Teacher and the Satguru. Fill yourself with the sanskars of happiness here. Let your face constantly sparkle with the awareness of your inheritance.
  2. Follow shrimat and do the service of changing the whole world. Liberate everyone trapped in the five vices. You have to give the introduction of the original religion of the self.
Blessing: May you be a master bestower who makes your companions loving and co-operative by having sovereignty over yourself.
A king means a bestower. A bestower does not need to say anything or ask for anything. He himself offers each of the kings a gift of his love. When you too become the kings who rule over yourselves, everyone will thenoffer you a gift of their co-operation. Lokik and alokik companions, say to those who rule over themselves, “Present, my lord”, “Yes, my lord” and “Ha ji” and become loving and co-operative. You should never give orders in the family, but keep your physical senses in order and all your companions will then become loving and co-operative with you.
Slogan: While having all facilities for attainment, you will be said to have an attitude of disinterest when your attitude remains beyond.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 November 2019

08-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप है अविनाशी वैद्य, जो एक ही महामंत्र से तुम्हारे सब दु:ख दूर कर देता है”
प्रश्नः- माया तुम्हारे बीच में विघ्न क्यों डालती है? कोई कारण बताओ?
उत्तर:- 1. क्योंकि तुम माया के बड़े ते बड़े ग्राहक हो। उसकी ग्राहकी खत्म होती है इसलिए विघ्न डालती है। 2. जब अविनाशी वैद्य तुम्हें दवा देता है तो माया की बीमारी उथलती है इसलिए विघ्नों से डरना नहीं है। मनमनाभव के मंत्र से माया भाग जायेगी।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं, मनुष्य ‘मन की शान्ति, मन की शान्ति’ कह हैरान होते हैं। रोज़ कहते भी हैं ओम् शान्ति। परन्तु इसका अर्थ न समझने के कारण शान्ति मांगते ही रहते हैं। कहते भी हैं आई एम आत्मा अर्थात् आई एम साइलेन्स। हमारा स्वधर्म है साइलेन्स। फिर जब कि स्वधर्म शान्ति है तो फिर मांगना क्यों? अर्थ न समझने के कारण फिर भी मांगते रहते हैं। तुम समझते हो यह रावण राज्य है। परन्तु यह भी नहीं समझते हैं कि रावण सारी दुनिया का आम और भारत का ख़ास दुश्मन है इसलिए रावण को जलाते रहते हैं। ऐसा कोई भी मनुष्य है, जिसको कोई वर्ष-वर्ष जलाते हों? इनको तो जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर जलाते आये हैं क्योंकि यह तुम्हारा दुश्मन बहुत बड़ा है। 5 विकारों में सब फँसते हैं। जन्म ही भ्रष्टाचार से होता है तो रावण का राज्य हुआ। इस समय अथाह दु:ख हैं। इसका निमित्त कौन? रावण। यह कोई को पता नहीं-दु:ख किस कारण होता है। यह तो राज्य ही रावण का है। सबसे बड़ा दुश्मन यह है। हर वर्ष उसकी एफ़ीजी बनाकर जलाते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन और ही बड़ा बनाते जाते हैं। दु:ख भी बढ़ जाता है। इतने बड़े-बड़े साधू, सन्त, महात्मायें, राजायें आदि हैं परन्तु एक को भी यह पता नहीं है कि रावण हमारा दुश्मन है, जिसको हम वर्ष-वर्ष जलाते हैं। और फिर खुशी मनाते हैं। समझते हैं रावण मरा और हम लंका के मालिक बनें। परन्तु मालिक बनते नहीं हैं। कितना पैसा खर्च करते हैं। बाप कहते हैं तुमको इतने अनगिनत पैसे दिये, सब कहाँ गँवाये? दशहरे पर लाखों रूपये खर्च करते हैं। रावण को मारकर फिर लंका को लूटते हैं। कुछ भी समझते नहीं, रावण को क्यों जलाते हैं। इस समय सब इन विकारों की जेल में पड़े हैं। आधाकल्प रावण को जलाते हैं क्योंकि दु:खी हैं। समझते भी हैं रावण के राज्य में हम बहुत दु:खी हैं। यह नहीं समझते हैं कि सतयुग में यह 5 विकार होते नहीं। यह रावण को जलाना आदि होता नहीं। पूछो यह कब से मनाते आये हो! कहेंगे यह तो अनादि चला आता है। रक्षाबन्धन कब से शुरू हुआ? कहेंगे अनादि चला आता है। तो यह सब समझ की बातें हैं ना। मनुष्यों की बुद्धि क्या बन पड़ी है। न जानवर हैं, न मनुष्य हैं। कोई काम के नहीं। स्वर्ग को बिल्कुल जानते नहीं। समझते हैं-बस, यही दुनिया भगवान ने बनाई है। दु:ख में याद तो फिर भी भगवान को करते हैं-हे भगवान् इस दु:ख से छुड़ाओ। परन्तु कलियुग में तो सुखी हो न सकें। दु:ख तो जरूर भोगना ही है। सीढ़ी उतरनी ही है। नई दुनिया से पुरानी दुनिया के अन्त तक के सब राज़ बाप समझाते हैं। बच्चों पास आते हैं तो बोलते हैं कि सब दु:खों की दवाई एक है। अविनाशी वैद्य है ना। 21 जन्मों के लिए सबको दु:खों से मुक्त कर देते हैं। वह वैद्य लोग तो खुद भी बीमार हो जाते हैं। यह तो है अविनाशी वैद्य। यह भी समझते हो-दु:ख भी अथाह है, सुख भी अथाह है। बाप अथाह सुख देते हैं। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं होता। सुखी बनने की ही दवाई है। सिर्फ मुझे याद करो तो पावन सतोप्रधान बन जायेंगे, सब दु:ख दूर हो जायेंगे। फिर सुख ही सुख होगा। गाया भी जाता है-बाप दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है। आधाकल्प के लिए तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जाते हैं। तुम सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो।

आत्मा और जीव दो का खेल है। निराकार आत्मा अविनाशी है और साकार शरीर विनाशी है इनका खेल है। अब बाप कहते हैं देह सहित देह के सब सम्बन्धों को भूल जाओ। गृहस्थ व्यवहार में रहते अपने को ऐसा समझो कि हमको अब वापिस जाना है। पतित तो जा न सकें इसलिए मामेकम् याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। बाप के पास दवाई है ना। यह भी बताता हूँ, माया विघ्न जरूर डालेगी। तुम रावण के ग्राहक हो ना। उनकी ग्राहकी चली जायेगी तो जरूर फथकेंगे। तो बाप समझाते हैं यह तो पढ़ाई है। कोई दवाई नहीं है। दवाई यह है याद की यात्रा। एक ही दवाई से तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे, अगर मेरे को निरन्तर याद करने का पुरूषार्थ करेंगे तो। भक्ति मार्ग में ऐसे बहुत हैं जिनका मुख चलता ही रहता है। कोई न कोई मंत्र राम नाम जपते रहते हैं, उनको गुरू का मंत्र मिला हुआ है। इतना बार तुमको रोज़ जपना है। उनको कहते हैं राम के नाम की माला जपना। इसको ही राम नाम का दान कहते हैं। ऐसी बहुत संस्थायें बनी हुई हैं। राम-राम जपते रहेंगे तो झगड़ा आदि कोई करेंगे नहीं, बिज़ी रहेंगे। कोई कुछ कहेगा भी तो भी रेसपॉन्स नहीं देंगे। बहुत थोड़े ऐसा करते हैं। यहाँ फिर बाप समझाते हैं राम-राम कोई मुख से कहना नहीं है। यह तो अजपाजाप है सिर्फ बाप को याद करते रहो। बाप कहते हैं मैं कोई राम नहीं हूँ। राम तो त्रेता का था, जिसकी राजाई थी, उनको तो जपना नहीं है। अब बाप समझाते हैं भक्ति मार्ग में यह सब सिमरण करते, पूजा करते तुम सीढ़ी नीचे ही उतरते आये हो क्योंकि वह सब हैं अनराइटियस। राइटियस तो एक ही बाप है। वह तुम बच्चों को बैठ समझाते हैं। यह कैसे भूल-भुलैया का खेल है। जिस बाप से इतना बेहद का वर्सा मिलता है उनको याद करें तो चेहरा ही उनका चमकता रहे। खुशी में चेहरा खिल जाता है। मुख पर मुस्कराहट आ जाती है। तुम जानते हो बाप को याद करने से हम यह बनेंगे। आधाकल्प के लिए हमारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। ऐसे नहीं, बाबा कुछ कृपा कर देंगे। नहीं, यह समझना है-हम बाप को जितना याद करेंगे उतना सतोप्रधान बन जायेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक कितने हर्षितमुख हैं। ऐसा बनना है। बेहद के बाप को याद कर अन्दर में खुशी होती है फिर से हम विश्व का मालिक बनेंगे। यह आत्मा की खुशी के संस्कार ही फिर साथ चलेंगे। फिर थोड़ा-थोड़ा कम होता जायेगा। इस समय माया तुमको फथकायेगी भी बहुत। माया कोशिश करेगी-तुम्हारी याद को भुलाने की। सदैव ऐसे हर्षित मुख रह नहीं सकेंगे। जरूर कोई समय घुटका खायेंगे। मनुष्य जब बीमार पड़ते हैं तो उनको कहते भी होंगे शिवबाबा को याद करो परन्तु शिवबाबा है कौन, यह किसको पता नहीं तो क्या समझ याद करें? क्यों याद करें? तुम बच्चे तो जानते हो बाप को याद करने से हम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनेंगे। देवी-देवता सतोप्रधान हैं ना, उनको कहा ही जाता है डीटी वर्ल्ड। मनुष्यों की दुनिया नहीं कहा जाता। मनुष्य नाम होता नहीं। फलाना देवता। वह है ही डीटी वर्ल्ड, यह है ह्युमन वर्ल्ड। यह सब समझने की बातें हैं। बाप ही समझाते हैं बाप को कहा जाता है ज्ञान का सागर। बाप अनेक प्रकार की समझानी देते रहते हैं। फिर भी पिछाड़ी में महामंत्र देते हैं-बाप को याद करो तो तुम सतोप्रधान बन जायेंगे और तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। कल्प पहले भी तुम देवी-देवता बने थे। तुम्हारी सीरत देवताओं जैसी थी। वहाँ कोई भी उल्टा-सुल्टा बोलते नहीं थे। ऐसा कोई काम ही नहीं होता। वह है ही डीटी वर्ल्ड। यह है ह्युमन वर्ल्ड। फर्क है ना। यह बाप बैठ समझाते हैं। मनुष्य तो समझते हैं डीटी वर्ल्ड को लाखों वर्ष हो गये। यहाँ तो कोई को देवता कह नहीं सकते। देवतायें तो स्वच्छ थे। महान् आत्मा देवी-देवता को कहा जाता है। मनुष्य को कभी नहीं कह सकते। यह है रावण की दुनिया। रावण बड़ा भारी दुश्मन है। इन जैसा दुश्मन कोई होता नहीं। हर वर्ष तुम रावण को जलाते हो। यह है कौन? किसको पता नहीं है। कोई मनुष्य तो नहीं है, यह हैं 5 विकार इसलिए इनको रावण राज्य कहा जाता है। 5 विकारों का राज्य है ना। सबमें 5 विकार हैं। यह दुर्गति और सद्गति का खेल बना हुआ है। अभी तुमको सद्गति के टाइम आदि का भी बाप ने समझाया है। दुर्गति का भी समझाया है। तुम ही ऊंच चढ़ते हो फिर तुम ही नीचे गिरते हो। शिवजयन्ती भी भारत में ही होती है। रावण जयन्ती भी भारत में ही होती है। आधाकल्प है दैवी दुनिया, लक्ष्मी-नारायण, राम-सीता का राज्य होता है। अभी तुम बच्चे सबकी बायोग्राफी को जानते हो। महिमा सारी तुम्हारी है। नवरात्रि पर पूजा आदि सब तुम्हारी होती है। तुम ही स्थापना करते हो। श्रीमत पर चल तुम विश्व को चेन्ज करते हो तो श्रीमत पर पूरा चलना चाहिए ना। नम्बरवार पुरूषार्थ करते रहते हैं। स्थापना होती रहती है। इसमें लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। अभी तुम समझते हो यह पुरूषोत्तम संगमयुग है ही बिल्कुल अलग। पुरानी दुनिया का अन्त, नई दुनिया का आदि। बाप आते ही हैं पुरानी दुनिया को चेन्ज करने। तुमको समझाते तो बहुत हैं परन्तु बहुत हैं जो भूल जाते हैं। भाषण के बाद स्मृति आती है-यह-यह प्वाइंट्स समझानी थी। हूबहू कल्प-कल्प जैसे स्थापना हुई है वैसे होती रहेगी, जिन्होंने जो पद पाया है वही पायेंगे। सब एक जैसा पद नहीं पा सकते हैं। ऊंच ते ऊंच पद पाने वाले भी हैं तो कम से कम पद पाने वाले भी हैं। जो अनन्य बच्चे हैं वह आगे चलकर बहुत फील करेंगे-यह साहूकारों की दासी बनेंगी, यह राजाई घराने की दासी बनेंगी। यह बड़े साहूकार बनेंगे, जिनको कब-कब इनवाइट करते रहेंगे। सबको थोड़ेही इनवाइट करेंगे, सब मुँह थोड़ेही देखेंगे।

बाप भी ब्रह्मा मुख से समझाते हैं, सम्मुख सब थोड़ेही देख सकेंगे। तुम अभी सम्मुख आये हो, पवित्र बने हो। ऐसे भी होता है जो अपवित्र आकर यहाँ बैठते हैं, कुछ सुनेंगे तो फिर देवता बन जायेंगे फिर भी कुछ सुनेंगे तो असर पड़ेगा। नहीं सुनें तो फिर आवें ही नहीं। तो मूल बात बाप कहते हैं मनमनाभव। इस एक ही मंत्र से तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जाते हैं। मनमनाभव-यह बाप कहते हैं फिर टीचर होकर कहते हैं मध्याजीभव। यह बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। तीनों ही याद रहें तो भी बहुत हर्षितमुख अवस्था रहे। बाप पढ़ाते हैं फिर बाप ही साथ ले जाते हैं। ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। भक्ति मार्ग में तो बाप को कोई जानते ही नहीं। सिर्फ इतना जानते हैं भगवान है, हम सब ब्रदर्स हैं। बाप से क्या मिलना है, वह कुछ भी पता नहीं है। तुम अभी समझते हो एक बाप है, हम उनके बच्चे सब ब्रदर्स हैं। यह बेहद की बात है ना। सब बच्चों को टीचर बन पढ़ाते हैं। फिर सबका हिसाब-किताब चुक्तू कराए वापिस ले जायेंगे। इस छी-छी दुनिया से वापिस जाना है, नई दुनिया में आने के लिए तुमको लायक बनाते हैं। जो-जो लायक बनते हैं, वह सतयुग में आते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी अवस्था को सदा एकरस और हर्षितमुख रखने के लिए बाप, टीचर और सतगुरू तीनों को याद करना है। यहाँ से ही खुशी के संस्कार भरने हैं। वर्से की स्मृति से चेहरा सदा चमकता रहे।

2) श्रीमत पर चलकर सारे विश्व को चेन्ज करने की सेवा करनी है। 5 विकारों में जो फँसे हैं, उन्हें निकालना है। अपने स्वधर्म की पहचान देनी है।

वरदान:- स्व के राज्य द्वारा अपने साथियों को स्नेही सहयोगी बनाने वाले मास्टर दाता भव
राजा अर्थात् दाता। दाता को कहना वा मांगना नहीं पड़ता। स्वयं हर एक राजाओं को अपने स्नेह की सौगात आफर करते हैं। आप भी स्व पर राज्य करने वाले राजा बनो तो हर एक आपके आगे सहयोग की सौगात आफर करेंगे। जिसका स्व पर राज्य है उसके आगे लौकिक अलौकिक साथी जी हाजिर, जी हजूर, हाँ जी कहते हुए स्नेही-सहयोगी बनते हैं। परिवार में कभी आर्डर नहीं चलाना, अपनी कर्मेन्द्रियों को आर्डर में रखना तो आपके सर्व साथी आपके स्नेही, सहयोगी बन जायेंगे।
स्लोगन:- सर्व प्राप्ति के साधन होते भी वृत्ति उपराम रहे तब कहेंगे वैराग्य वृत्ति।

TODAY MURLI 8 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 November 2018 :- Click Here

08/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your real Deepmala (festival of lights) will be in the new world. This is why you shouldn’t have any desire to see the false festivals of this old world.
Question: You are holy swans. What is your duty?
Answer: Your main duty is to stay in remembrance of the one Father and to connect the intellect of everyone in yoga to the one Father. You become pure and make everyone pure. You have to remain constantly engaged in the task of changing human beings into deities. You have to liberate everyone from sorrow, become guides and show them the path to liberation and liberation-in-life.
Song: Having found You, we have found the whole world. The earth and sky all belong to us. 

Om shanti. You children heard the song. You children say that you are claiming your inheritance of the kingdom of heaven. No one can ever burn that; no one can snatch that away from us; no one can win that inheritance from us. Souls receive the inheritance from the Father and such a Father is truly called the Mother and Father. Only those who recognise the Mother and Father can come to this institution. The Father also says: I reveal Myself personally in front of the children and teach them Raja Yoga. Children come and make the unlimited Father belong to them while alive. Children are adopted while alive. You belong to Me and I belong to you. Why do you belong to Me? You say: Baba, we have become Yours to claim the inheritance of heaven from You. OK child; never divorce such a Father. Otherwise, what would be the result? You would not be able to claim the full inheritance of the kingdom of heaven. Baba and Mama become the emperor and empress. Therefore, you have to make effort and claim such an inheritance. However, while making effort, some children divorce the Father and then go and become trapped in the vices and fall into hell. Hell is hell and heaven is heaven. You say: We make the Father belong to us in order to become the masters of heaven for all time because we are at present in hell. Until Heavenly God , the Father, who is the Creator of Heaven, comes, no one can go to heaven. His very name is Heavenly God , the Father. You know that at this time. The Father says: Children, you understand that you have truly come to the Father to claim your inheritance from Him as you did 5000 years ago. However, while you are moving along, the storms of Maya completely ruin you. You then stop studying, that is, you die. If, after belonging to God, you let go of His hand, it means you have died from the new world and gone back to the old world. It is only Heavenly God , the Father , who liberates you from the sorrow of hell, becomes your Guide and takes you back to the sweet silence home from where we souls came. He then gives us the kingdom of sweet heaven. The Father comes to give two things: liberation and salvation. The golden age is the land of happiness and the iron age is the land of sorrow and the land from where we souls come is the land of peace. That Father is the Bestower of Peace and the Bestower of Happiness for the future. From this peaceless land, we will first go to the land of peace. That is called the sweet silence home. We reside there. It is the soul that says: That is our sweet home and then, by studying the knowledge at this time, we will receive the kingdom of heaven. The name of the Father is Heavenly God, the Father, the Liberator, the Guide, the knowledge-full, b lissful, Ocean of Knowledge. He is also merciful. He has mercy for everyone. He also has mercy for the elements. Everyone becomes liberated from sorrow. Even animals etc. experience sorrow. If you killed one, it would experience sorrow, would it not? The Father says: I liberate everyone, not just human beings from sorrow. However, I will not take animals back with Me. This refers to human beings. There is only one such unlimited Father; all the rest take you into degradation. You children know that only the unlimited Father will give you the gift of heaven, the land of liberation. He gives you the inheritance. The Highest on High is the one Father. All devotees remember that God, the Father. Christians also remember God. Shiva is Heavenly God, the Father. He alone is k nowledgefull and b lissful. You children understand the meaning of this. You are also numberwise. Some are such that, no matter how much you decorate them with knowledge, they still fall into vice and are attracted towards the dirty world. Some children go to see Deepmala. In fact, My children shouldn’t look at that false Deepmala but, because they don’t have knowledge, they have that desire. Your Diwali is in the golden age when you become pure. You children have to explain that the Father just comes to take you to the sweet home and sweet heaven. Those who study well and imbibe knowledge will go to the kingdom of heaven. However, it has to be in your fortune. If you don’t follow shrimat, you won’t become elevated. These are the versions of Shri Shri God Shiva. Until human beings receive the recognition of God, they will continue to perform devotion. When faith becomes firm, devotion is automatically renounced. You are ‘holiness . You make everyone pure according to the directions of God, the Father. Those people make Hindus and those of Islam into Christians. You make devilish human beings pure. Only when they become pure can they go to heaven or the sweet homeNone but One. You don’t remember anyone except the one Father. Only from the one Father are you to receive the inheritance and so you would surely only remember that one Father. You become pure and help to make others pure. Those nuns don’t purify anyone or make others into nuns like themselves. They simply convert Hindus into Christians. You holy nuns purify everyone and enable all souls to forge a connection with their intellects in yoga to the one God, the Father. It says in the Gita: Renounce your body and all bodily relations, consider yourself to be a soul and remember the Father. Then, only by imbibing knowledge will you receive a kingdom. Only by having remembrance of the Father will you become ever h ealthy , and with knowledgebecome ever wealthy. The Father is the Ocean of Knowledge. He tells you the essence of all the Vedas and scriptures. They portray the scriptures in the hands of Brahma. This one is Brahma. Shiv Baba explains the essence of all the Vedas and scriptures to you through this one. He is the Ocean of Knowledge. You continue to receive knowledge through this one. Others then continue to receive it through you. Some children say: Baba, I am opening this spiritual hospitalwhere diseased human beings can come and become free from disease and claim their inheritance of heaven. They can make their lives worthwhile and receive a lot of happiness. Therefore, they would definitely receive blessings from all those many people. Baba also explained the other day that to study the scriptures of Bharat such as the Gita, the Bhagawad, the Vedas and Upanishads etc., to hold sacrificial fires, to do tapasya, to fast, make certain vows and go on pilgrimages are all like buttermilk; they are the paraphernalia of the path of devotion. By following the one shrimat of the God of the one Bhagawad Gita, Bharat receives the butter. The Shrimad Bhagawad Gita has been falsified so that, instead of the name of the Ocean of Knowledge, the Purifier, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, they have inserted Shri Krishna’s name and turned it into buttermilk. This is the one big mistake. The Ocean of Knowledge is giving you children knowledge directly. You now know how this world cycle turns and how the world tree grows. You Brahmins are the topknot and Shiv Baba is the Father of Brahmins. You will then become deities from Brahmins, then warriors, merchants and shudras. This is the somersault. This is called the cycle of 84 births. You can also explain to those who hold gatherings where the Vedas are read: Devotion is buttermilk whereas knowledge is the butter through which you receive liberation and liberation-in-life. If you want to understand knowledge in depth, then listen with patience. The Brahma Kumaris can explain it to you. It is also mentioned in the scriptures that these children gave knowledge to Bhishampitamai and Ashwathama etc. (characters in Mahabharatha) at the end. At the end, everyone will understand that what you say is correct. They will definitely come at the end. When you hold exhibitions, so many thousands of people come, but not everyone becomes one who has full faith in the intellect. Out of multimillions, only a handful understand very well and have that faith. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, lucky stars of knowledge, love, remembrance and good morning, numberwise, according to your efforts, from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become pure and make others pure like yourself. Don’t remember anyone except the one Father.
  2. In order to receive blessings from many souls, open a spiritual hospital. Show everyone the path to liberation and salvation.
Blessing: May you be a double server and a trustee with a faithful intellect and have spiritual feelings for the your physical relatives.
Some children get tired while serving and think that so-and-so is never going to change. Do not become disheartened in this way. Have faith in the intellect, become detached from the consciousness of “mine” and continue to move on. It takes time for some souls for their account of the path of devotion to be settled. Therefore, have patience, become stable in the stage of a detached observer, and continue to give all souls your co-operation of peace and power. Have spiritual feelings for your physical relatives, become a double server and a trustee.
Slogan: To make the atmosphere elevated with your elevated attitude is true service.

*** Om Shanti ***

Elevated versions of Mateshwari 21-1-57

This Godly satsang (spiritual gathering) is not a common satsang.

This Godly satsang of ours is not a common satsang. This is a Godly school or college in which we have to study regularly. Others just go and ‘do satsang’, they listen to that for a short time and then go back to square one. You become as you were, because you don’t receive a regular study there where you could create a reward. This is why our satsang is not a common satsang. This is our Godly college where God sits and teaches us and where we fully imbibe this study and claim a high status. Just as a teacher teaches you every day and gives you a degree, in the same way, here, God Himself in the form of the Guru, the Father and the Teacher teaches us every day and enables us to claim the highest status of deities. This is why it is necessary to join this school. It is essential for those who come here to understand this knowledge, what teachings you receive here and what you will attain by taking these teachings. We now know that God Himself comes and enables us to attain a degree and we have to finish this whole course in just this one birth. Those who take this course of knowledge from the beginning to the end will pass fully. Those who come in the middle of the course will not take that much knowledge. They would not know what was taught earlier in the course. This is why one has to study regularly here. Only by having this knowledge will you progress and this is why you have to study regularly.

After becoming a true child of God, do not have any doubts.

Since God Himself has come onto this earth, we have to give our hands to Him fully. However, only those who are true and strong children of Baba will give Baba their hands. Never let go of that Father’s hand. If you let go, where would you go after becoming an orphan? Now that you have caught hold of God’s hand, you mustn’t have the slightest thought, even in a subtle form, of letting go of it, nor must you have any doubts such as: I don’t know whether I will be able to go across or not. There are even such children who do not recognise the Father and so they answer the Father back and say that they are not concerned about anyone. If you have such thoughts, how can the Father look after such unworthy children? You should then understand that you are about to fall because Maya tries very hard to make you fall and she will definitely test you to see to what extent you are a clever and strong warrior. This is also essential. The stronger we become through God, the more Maya will also become strong and try to make us fall. There will be a proper partnership. Just as God is strong, Maya will also show her strength, but we have the firm faith that, ultimately, God is the strongest and that victory will finally be His. We have to remain firm in this faith in every breath. Maya has to show her strength; she cannot show her weakness in front of God. If you show your weakness, even once, everything is over. Therefore, even if Maya shows her force, we mustn’t let go of the hand of Maya Pati (the Lord of Maya). Those who hold on to His hand fully will be victorious. Since God is our Master, we must not have even any thought of letting go of His hand. God says: Children, since I, Myself, am powerful, then by being with Me, you will definitely become powerful. Do you understand, children?

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 November 2018

To Read Murli 7 November 2018 :- Click Here
08-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी सच्ची-सच्ची दीपावली तो नई दुनिया में होगी, इसलिए इस पुरानी दुनिया के झूठे उत्सव आदि देखने की दिल तुम्हें नहीं हो सकती”
प्रश्नः- तुम होलीहंस हो, तुम्हारा कर्तव्य क्या है?
उत्तर:- हमारा मुख्य कर्तव्य है एक बाप की याद में रहना और सबका बुद्धियोग एक बाप के साथ जुड़ाना। हम पवित्र बनते और सबको बनाते हैं। हमें मनुष्य को देवता बनाने के कर्तव्य में सदा तत्पर रहना है। सबको दु:खों से लिबरेट कर, गाइड बन मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता बताना है।
गीत:- तुम्हें पाके हमने जहाँ पा लिया है…….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। बच्चे कहते हैं हम स्वर्ग की राजाई का वर्सा पाते हैं। उसे कभी कोई जला न सके, कोई छीन न सके, वह वर्सा हमसे कोई जीत न सके। आत्मा को बाप से वर्सा मिलता है और ऐसे बाप को बरोबर मात-पिता भी कहते हैं। मात-पिता को पहचानने वाला ही इस संस्था में आ सकता है। बाप भी कहते हैं मैं बच्चों के सम्मुख प्रत्यक्ष हो पढ़ाता हूँ, राजयोग सिखाता हूँ। बच्चे आकर बेहद के बाप को अपना बनाते हैं, जीते जी। धर्म के बच्चे जीते जी लिए जाते हैं। आप हमारे हैं, हम आपके हैं। तुम हमारे क्यों बने हो? कहते हो – बाबा, आपसे स्वर्ग का वर्सा लेने हम आपके बने हैं। अच्छा बच्चे, ऐसे बाप को कभी फारकती नहीं देना। नहीं तो नतीजा क्या होगा? स्वर्ग की राजाई का पूरा वर्सा तुम पा नहीं सकेंगे। बाबा-मम्मा महाराजा-महारानी बनते हैं ना, तो पुरुषार्थ कर इतना वर्सा पाना है। परन्तु बच्चे पुरुषार्थ करते-करते फिर फारकती दे देते हैं। फिर जाकर विकारों में फँसते हैं वा हेल में गिरते हैं। हेल नर्क को, हेविन स्वर्ग को कहा जाता है। कहते हैं हम सदा स्वर्ग के मालिक बनने के लिए बाप को अपना बनाते हैं क्योंकि अभी हम नर्क में हैं। हेविनली गॉड फादर, जो स्वर्ग का रचयिता है वह जब तक न आये तब तक कोई हेविन जा न सके। उसका नाम ही है हेविनली गॉड फादर। यह भी तुम अभी जानते हो। बाप कह रहे हैं – बच्चे, तुम समझते हो, बरोबर बाप से वर्सा पाने के लिए हम बाप के पास आये हैं, 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक। परन्तु फिर भी चलते-चलते माया के तूफान एकदम बरबाद कर देते हैं। फिर पढ़ाई को छोड़ देते हैं, गोया मर गये। ईश्वर का बनकर फिर अगर हाथ छोड़ दिया तो गोया नई दुनिया से मरकर पुरानी दुनिया में चला गया। हेविनली गॉड फादर ही नर्क के दु:ख से लिबरेट कर फिर गाइड बन स्वीट साइलेन्स होम में ले जाते हैं, जहाँ से हम आत्मायें आई हैं। फिर स्वीट हेविन की राजाई देते हैं। दो चीज़ देने बाप आते हैं – गति और सद्गति। सतयुग है सुखधाम, कलियुग है दु:खधाम और जहाँ से हम आत्मायें आती हैं वह है शान्तिधाम। यह बाप है ही शान्तिदाता, सुखदाता फार फ्युचर। इस अशान्त देश से पहले शान्ति देश में जायेंगे। उसको स्वीट साइलेन्स होम कहा जाता है, हम रहते ही वहाँ हैं। यह आत्मा कहती है कि हमारा स्वीट होम वह है फिर हम जो इस समय नॉलेज पढ़ते हैं, उससे हमको स्वर्ग की राजधानी मिलेगी। बाप का नाम ही है हेविनली गॉड फादर, लिबरेटर, गाइड, नॉलेजफुल, ब्लिसफुल, ज्ञान का सागर। रहमदिल भी है। सब पर रहम करते हैं। तत्वों पर भी रहम करते हैं। सभी दु:ख से छूट जाते हैं। दु:ख तो जानवर आदि सबको होता है ना। कोई को मारो तो दु:ख होगा ना। बाप कहते हैं मनुष्य मात्र तो क्या, सभी को दु:ख से लिबरेट करता हूँ। परन्तु जानवरों को तो नहीं ले जायेंगे। यह मनुष्यों की बात है। ऐसा बेहद का बाप एक ही है बाकी तो सब दुर्गति में ले जाते हैं। तुम बच्चे जानते हो बेहद का बाप ही स्वर्ग की वा मुक्तिधाम की गिफ्ट देने वाला है। वर्सा देते हैं ना। ऊंच ते ऊंच एक बाप है। सभी भक्त उस भगवान् बाप को याद करते हैं। क्रिश्चियन भी गॉड को याद करते हैं। हेविनली गॉड फादर है शिव। वही नॉलेजफुल, ब्लिसफुल है। इसका अर्थ भी तुम बच्चे जानते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोई तो बिल्कुल ऐसे हैं जो कितना भी ज्ञान का श्रृंगार करो फिर भी विकारों में गिरेंगे, गन्दी दुनिया देखेंगे।

कई बच्चे दीपमाला देखने जाते हैं। वास्तव में हमारे बच्चे यह झूठी दीपमाला देख नहीं सकते। परन्तु ज्ञान नहीं है तो दिल होगी। तुम्हारी दीवाली तो है सतयुग में, जबकि तुम पवित्र बन जाते हो। तुम बच्चों को समझाना है कि बाप आते ही हैं स्वीट होम वा स्वीट हेविन में ले जाने। जो अच्छी रीति पढ़ेंगे, धारणा करेंगे, वही स्वर्ग की राजधानी में आयेंगे। परन्तु तकदीर भी चाहिए ना। श्रीमत पर नहीं चलेंगे तो श्रेष्ठ नहीं बनेंगे। यह है श्री शिव भगवानुवाच। जब तक मनुष्यों को बाप की पहचान नहीं मिली है तब तक भक्ति करते रहेंगे। जब निश्चय पक्का हो जायेगा तो फिर भक्ति आपेही छोड़ेंगे। तुम हो होलीनेस। गॉड फादर के डायरेक्शन अनुसार सभी को पवित्र बनाते हो। वह तो सिर्फ हिन्दुओं को वा मुसलमानों को क्रिश्चियन बनायेंगे। तुम तो आसुरी मनुष्यों को पवित्र बनाते हो। जब पवित्र बनें तब हेविन वा स्वीट होम में जा सकें। नन बट वन, तुम सिवाए एक बाप के और कोई को याद नहीं करते हो। एक बाप से ही वर्सा मिलना है तो जरूर उस एक बाप को ही याद करेंगे। तुम पवित्र बन औरों को पवित्र बनाने की मदद करते हो। वह नन्स कोई पवित्र नहीं बनाती हैं, न आप समान नन्स बनाती हैं। सिर्फ हिन्दू से क्रिश्चियन बनाती हैं। तुम होली नन्स पवित्र भी बनाती हो और सभी आत्माओं का एक गॉड फादर से बुद्धियोग जुटाती हो। गीता में भी है ना – देह सहित देह के सभी सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। फिर नॉलेज को धारण करने से ही राजाई मिलेगी। बाप की याद से ही एवरहेल्दी बनेंगे और नॉलेज से एवरवेल्दी बनेंगे। बाप तो है ही ज्ञान सागर। सभी वेदों-शास्त्रों का सार बतलाते हैं। ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दिखाते हैं ना। तो यह ब्रह्मा है। शिवबाबा इनके द्वारा सभी वेदों शास्त्रों का सार समझाते हैं। वह है ज्ञान का सागर। इनके द्वारा तुमको नॉलेज मिलती रहती है। तुम्हारे द्वारा फिर औरों को मिलती रहती है।

कई बच्चे कहते हैं – बाबा, हम यह रूहानी हॉस्पिटल खोलते हैं, जहाँ रोगी मनुष्य आकर निरोगी बनेंगे और स्वर्ग का वर्सा लेंगे, अपना जीवन सफल करेंगे, बहुत सुख पायेंगे। तो इतने सबकी आशीर्वाद जरूर उनको मिलेगी। बाबा ने उस दिन भी समझाया था कि गीता, भागवत, वेद, उपनिषद आदि सब जो भी भारत के शास्त्र हैं, यह शास्त्र अध्ययन करना, यज्ञ, तप, व्रत, नेम, तीर्थ आदि करना यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री रूपी छांछ है। एक ही श्रीमत भगवत गीता के भगवान् से भारत को मक्खन मिलता है। श्रीमत भगवत गीता को भी खण्डन किया हुआ है, जो ज्ञान सागर पतित-पावन निराकार परमपिता परमात्मा के बदले श्री कृष्ण का नाम डालकर छांछ बना दिया है। एक ही कितनी बड़ी भारी भूल है। अभी तुम बच्चों को ज्ञान सागर डायरेक्ट ज्ञान दे रहे हैं। अभी तुम जानते हो कि यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, यह सृष्टि रूपी झाड़ की वृद्धि कैसे होती है? तुम ब्राह्मण हो चोटी, शिवबाबा है ब्राह्मणों का बाप। फिर ब्राह्मण से देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। यह हो गई बाजोली। इसको 84 जन्मों का चक्र कहा जाता है। वेद सम्मेलन करने वालों को भी तुम समझा सकते हो। भक्ति है छांछ, ज्ञान है मक्खन। जिससे मुक्ति-जीवनमुक्ति मिलती है। अब अगर तुमको विस्तार से ज्ञान समझना है तो धैर्यवत होकर सुनो। ब्रह्माकुमारियां तुमको समझा सकती हैं। शास्त्रों में भी लिखा हुआ है भीष्मपितामह, अश्वस्थामा आदि को पिछाड़ी में इन बच्चों ने ज्ञान दिया है। अन्त में यह सब समझ जायेंगे कि यह तो ठीक कहते हैं, अन्त में आयेंगे जरूर। तुम प्रदर्शनी करते हो, कितने हजार मनुष्य आते हैं परन्तु निश्चयबुद्धि सब थोड़ेही बन जाते। कोटों में कोई ही निकलते हैं जो अच्छी रीति समझकर निश्चय करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे लकी ज्ञान सितारों प्रति, मात-पिता बापदादा का नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पवित्र बन आप समान पवित्र बनाना है। एक बाप के सिवाए किसी को भी याद नहीं करना है।

2) अनेक आत्माओं की आशीर्वाद लेने के लिए रूहानी हॉस्पिटल खोलनी है। सबको गति-सद्गति की राह बतानी है।

वरदान:- निश्चयबुद्धि बन लौकिक में अलौकिक भावना रखने वाले डबल सेवाधारी ट्रस्टी भव
कई बच्चे सेवा करते-करते थक जाते हैं, सोचते हैं यह तो कभी बदलना ही नहीं है। ऐसे दिलशिकस्त नहीं बनो। निश्चयबुद्धि बन, मेरेपन के संबंध से न्यारे हो चलते चलो। कोई कोई आत्माओं का भक्ति का हिसाब चुक्तू होने में थोड़ा समय लगता है इसलिए धीरज धर, साक्षीपन की स्थिति में स्थित हो, शान्त और शक्ति का सहयोग आत्माओं को देते रहो। लौकिक में अलौकिक भावना रखो। डबल सेवाधारी, ट्रस्टी बनो।
स्लोगन:- अपनी श्रेष्ठ वृत्ति से वायुमण्डल को श्रेष्ठ बनाना यही सच्ची सेवा है।

मातेश्वरी जी के महावाक्य:

“यह ईश्वरीय सतसंग कॉमन सतसंग नहीं है”

अपना यह जो ईश्वरीय सतसंग है, कॉमन सतसंग नहीं है। यह है ईश्वरीय स्कूल, कॉलेज। जिस कॉलेज में अपने को रेग्युलर स्टडी करनी है, बाकी तो सिर्फ सतसंग करना, थोड़ा समय वहाँ सुना फिर तो जैसा है वैसा ही बन जाता है क्योंकि वहाँ कोई रेग्युलर पढ़ाई नहीं मिलती है, जहाँ से कोई प्रालब्ध बनें इसलिए अपना सतसंग कोई कॉमन सतसंग नहीं है। अपना तो ईश्वरीय कॉलेज है, जहाँ परमात्मा बैठ हमें पढ़ाता है और हम उस पढ़ाई को पूरी धारण कर ऊंच पद को प्राप्त करते हैं। जैसे रोज़ाना स्कूल में मास्टर पढ़ाए डिग्री देता है वैसे यहाँ भी स्वयं परमात्मा गुरू, पिता, टीचर के रूप में हमको पढ़ाए सर्वोत्तम देवी देवता पद प्राप्त कराते हैं इसलिए इस स्कूल में ज्वाइन्ट होना जरूरी है। यहाँ आने वाले को यह नॉलेज समझना जरूर है, यहाँ कौनसी शिक्षा मिलती है? इस शिक्षा को लेने से हमको क्या प्राप्ति होगी! हम तो जान चुके हैं कि हमको खुद परमात्मा आकर डिग्री पास कराते हैं और फिर एक ही जन्म में सारा कोर्स पूरा करना है। तो जो शुरू से लेकर अन्त तक इस ज्ञान के कोर्स को पूरी रीति उठाते हैं वो फुल पास होंगे, बाकी जो कोर्स के बीच में आयेंगे वो तो इतनी नॉलेज को उठायेंगे नहीं, उन्हों को क्या पता आगे का कोर्स क्या चला? इसलिए यहाँ रेग्युलर पढ़ना है, इस नॉलेज को जानने से ही आगे बढ़ेंगे इसलिए रेग्युलर स्टडी करनी है।

2- “परमात्मा का सच्चा बच्चा बनते कोई संशय में नहीं आना चाहिए”

जब परमात्मा खुद इस सृष्टि पर उतरा हुआ है, तो उस परमात्मा को हमें पक्का हाथ देना है लेकिन पक्का सच्चा बच्चा ही बाबा को हाथ दे सकता है। इस बाप का हाथ कभी नहीं छोड़ना, अगर छोड़ेंगे तो फिर निधण का बन कहाँ जायेंगे! जब परमात्मा का हाथ पकड़ लिया तो फिर सूक्ष्म में भी यह संकल्प नहीं चाहिए कि मैं छोड़ दूँ वा संशय नहीं होना चाहिए। पता नहीं हम पार करेंगे वा नहीं, कोई ऐसे भी बच्चे होते हैं जो पिता को न पहचानने के कारण पिता के भी सामने पड़ते हैं और ऐसे भी कह देते हैं हमको कोई की भी परवाह नहीं है। अगर ऐसा ख्याल आया तो ऐसे न लायक बच्चे की सम्भाल पिता कैसे करेगा फिर तो मानो कि गिरा कि गिरा क्योंकि माया तो गिराने की बहुत कोशिश करती है क्योंकि परीक्षा तो अवश्य लेगी कि कितने तक योद्धा रूसतम पहलवान है! अब यह भी जरूरी है, जितना जितना हम प्रभु के साथ रूसतम बनते जायेंगे उतना माया भी रूसतम बन हमको गिराने की कोशिश करेगी। जोड़ी पूरी बनेगी जितना प्रभु बलवान है तो माया भी उतनी बलवानी दिखलायेगी, परन्तु अपने को तो पक्का निश्चय है आखरीन भी परमात्मा महान बलवान है, आखरीन उनकी जीत है। श्वांसो श्वांस इस विश्वास में स्थित होना है, माया को अपनी बलवानी दिखलानी है, वह प्रभु के आगे अपनी कमजोरी नहीं दिखायेगी, बस एक बारी भी कमजोर बना तो खलास हुआ इसलिए भल माया अपना फोर्स दिखलाये, परन्तु अपने को मायापति का हाथ नहीं छोड़ना है, वो हाथ पूरा पकड़ा तो मानो उनकी विजय है, जब परमात्मा हमारा मालिक है तो हाथ छोड़ने का संकल्प नहीं आना चाहिए। परमात्मा कहता है, बच्चे जब मैं खुद समर्थ हूँ, तो मेरे साथ होते तुम भी समर्थ अवश्य बनेंगे। समझा बच्चे।

Font Resize