daily murli 8 june

TODAY MURLI 8 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 June 2020

08/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, each of you has now received a third eye of knowledge. Therefore, your vision should no longer be drawn to anything.
Question: What are the signs of those who have unlimited disinterest in the old world?
Answer: They offer everything they have to the Father. They consider nothing to belong to them. They say: Baba even this body doesn’t belong to me. This is an old body and I have to discard it. Their attachment to everything continues to break and they destroy all attachment. It remains in their intellects that everything of this world is limited and of no use.

Om shanti. The Father gives you children the knowledge of Brahmand (element of light) and the beginning, middle and end of the world, which no one else can give. Only the Gita mentions Raj Yoga and that God comes and changes ordinary humans into Narayan. This is not mentioned in any scripture other than the Gita. The Father had told you this. He says: I taught you Raj Yoga. I also explained that this knowledge does not continue from time immemorial. The Father comes and establishes the one religion and then all the other religions are destroyed. None of the scriptures etc. continue from time immemorial. Destruction does not take place when the founders of religions come to establish their religions, otherwise everything would then come to an end. Those on the path of devotion continue to study the scriptures. Although the scripture of the Brahmin religion is the Gita, that too is created on the path of devotion because no scriptures exist in the golden age. Destruction does not take place when other religions come into existence. The old world is not destroyed at any of those times so that a new one can be created; the same world continues. You children understand that this old world is now to be destroyed. The Father is teaching us. It is only the Gita that is praised. The birth of the Gita is also celebrated. There is no celebration for the birth of the Vedas. There is only one God. Therefore, they should only celebrate the birth of the One. The rest is creation and nothing can be attained from that. It is only from the Father that you receive the inheritance. An inheritance is not received from a maternal or paternal uncle etc. That One is your unlimited Father, the One who gives you unlimited knowledge. He does not relate any scriptures to you. He says: All of that belongs to the path of devotion. I tell you the essence of all the scriptures. The scriptures are not a study. One receives a status through a study. The Father is teaching you children this study. God speaks to you children now and this will then repeat again in the same way after 5000 years. You children have come to know the Creator and the beginning, middle and end of creation from the Father. No one but the Father can explain all of this to you. He speaks to you through this lotus mouth. This is the mouth that God has taken on loan. It is also called “Gaumukh” (cow’s mouth). This one is also the senior mother. Versions of knowledge, not water etc., emerge from his mouth. On the path of devotion, water is shown emerging from a Gaumukh. You children now understand what they do on the path of devotion. They travel so far to Gaumukh etc. to drink that water. You are now changing from ordinary humans into deities. You know that the Father comes every cycle to teach you in order to change you from ordinary humans into deities. You can see how He is teaching you. You tell everyone that God is teaching you. He says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You know that there are very few human beings in the golden age. There are so many human beings in the iron age. The Father comes and establishes the original eternal deity religion. We are becoming deities from ordinary humans. Divine virtues will be visible in the children who are becoming deities from human beings. They will not have the slightest trace of anger in them. If, by chance, they become angry, they would immediately write to the Father: Baba, I made this mistake today. I became angry and committed a sin. How much connection do you have with the Father? “Baba, forgive me.” The Father would say: There can’t be forgiveness, but do not make the same mistake again. A teacher doesn’t forgive you. He would show you the register and explain that your manners are not good. The unlimited Father also says: You can see your own manners. Look at your chart every day and ask yourself: Did I cause anyone sorrow today? Did I upset anyone today? It takes time to imbibe divine virtues. It is with great difficulty that body consciousness breaks. Only when you consider yourself to be bodiless can there be love for the Father. Otherwise, the intellect is caught up with the karmic accounts of the body. The Father says: You do have to act for the livelihood of your body, but you can also make time for this. People make time to do devotion. Meera would only stay in remembrance of Krishna, but she had to continue to take rebirth here. You children now have disinterest in this old world. You know that you are not going to take rebirth in this old world. This world is to be destroyed. All of these aspects are in your intellects. Just as Baba has this knowledge, so you children too have this knowledge. The knowledge of the world cycle is not in the intellect of anyone else. The children who are able to keep this knowledge in their intellects are also numberwise. The highest-on-high Father is the Purifier and He is teaching us. Only you know this. The cycle of 84 births is in your intellects. You are now aware that this is your final birth in hell. This is called the extreme depths of hell. There is a great deal of dirt everywhere. This is why sannyasis leave their homes and families. That is a physical aspect. You discard everything from your intellects because you know that you now have to return home. You have to forget everyone. This dirty old world is already dead for you. When your house has become old and a new one is being built, it enters your heart that that house will be demolished. You children are now studying. You know that the new world is being established; just a short time remains. Many children will come and study here. Your new house is being built and the old one will continue to be demolished. Very few days remain. These unlimited aspects are in your intellects. Your hearts are no longer attached to this old world. None of this is going to be useful at the end. We now want to go away from here. The Father says: Do not attach your hearts to this old world. Remember Me, your Father, and remember your home and your sins will be absolved. Otherwise, you will experience a great deal of punishment and your status will also be destroyed. You souls know that you have gone through 84 births and so you are now concerned with having to remember the Father so that your sins can be absolved. Follow the Father’s directions; only then can you make your lives elevated. The Father is the Highest on High. Only you know this. The Father reminds you of this very well. That unlimited Father is the Ocean of Knowledge. He comes here to teach us. The Father says: Do everything you have to do for your livelihoods but also study this study and remain trustees. The children who have unlimited disinterest in the old world will offer everything they have to the Father. Nothing belongs to us. Baba, even this body doesn’t belong to me. This is an old body; it has to be renounced. Attachment to everything is breaking. You have to become conquerors of attachment. This is unlimited disinterest, whereas the other disinterest is limited. It is in your intellects that you will go to heaven and create your own palaces. Nothing of this world will be useful there because everything here is limited. You are now coming out of the limited and going into the unlimited. Only this unlimited knowledge should remain in your intellects. Your vision is no longer drawn to anything here. We now have to return home. The Father comes every cycle to teach us and then takes us back home with Him. This is not a new study for you. You know that you study this every cycle. You are all numberwise. There are so many human beings in the whole world. However, only a few of you know this. This tree of Brahmins continues to grow gradually. According to the dramaplan, establishment has to take place. You children know that this is your spiritual government. We are able to see the new world in divine visions. We have to go there. God is only One. He is the One who teaches us. The Father taught us Raj Yoga. Then, the war took place and there was establishment of the one religion and destruction of many religions. You are the same ones. You have been studying for cycle after cycle and claiming your inheritance. All of you have to make your own efforts. This study of yours is unlimited. No human being can give you these teachings. The Father has also explained the secrets of Shyam and Sundar. You understand that you are now becoming beautiful and that, previously, you were ugly. It was not only Krishna who was this; there was the whole kingdom. You now understand that you are becoming residents of heaven from residents of hell. You now dislike this hell. You have come to the most auspicious confluence age. So many come here, but only those who emerged in the previous cycle will emerge again. Remember the confluence age very well. We are becoming the most elevated; we are becoming deities from ordinary humans. People don’t even understand what hell is or what heaven is. They say that everything exists together here, that those who are happy are in heaven and that those who are unhappy are in hell. There are many opinions. There are many opinions in the one home. The strings of attachment of some to their children don’t break. Due to their attachment, they don’t understand in what way they are living. They ask: Should I allow my son to get married? However, this discipline has been explained to you children. On the one hand, you are taking knowledge to become a resident of heaven. On the other hand, you ask if you should send him to hell! Since you ask, Baba says: Go ahead and let him do it. Because you ask Baba this, Baba understands that you have attachment to the child. Even if Baba were to say “No”, there would be disobedience. Daughters have to be married. Otherwise, they may be ruined by keeping bad company. Sons don’t have to get married, but you do need courage for that. Baba demonstrated that through this one. When others saw this one, they started to do the same. There was a great deal of quarrelling in their homes. This is the world of fighting and quarrelling; it is a jungle of thorns. People continue to hurt one another. Heaven is called a garden. This is a jungle. The Father comes and changes you from thorns into flowers. Scarcely a few emerge. Although they say “Yes” to everything you say at the exhibitions, they understand nothing at all; it goes in one ear and out of the other. It takes time to establish a kingdom. Human beings don’t consider themselves to be thorns. Although they have the features of human beings, their characters are worse than those of monkeys. However, they don’t consider themselves to be like that. Therefore, the Father says: Explain to your creation. If they don’t understand anything, make them leave. However, you need strength to do that. The insects of attachment have attached themselves so much that they cannot be removed. Here, you have to become destroyers of attachment. Mine is One and none other. The Father has now come to take us back home. You have to become pure. Otherwise, there will be a great deal of punishment and your status will be destroyed. Your only concern should now be to make yourselves satopradhan. Go and explain at the temples to Shiva: God made the people of Bharat into the masters of heaven, and He is doing that once again. He says: Simply remember Me alone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have unlimited disinterest in this old world and offer everything you have to the Father. Nothing belongs to me. Even this body doesn’t belong to me. Break your attachment to it and become a destroyer of attachment.
  2. Never make a mistake through which your register would become marked. Imbibe all the divine virtues. There should not be the slightest trace of anger in you.
Blessing: May you become an intense effort-maker who overcomes all problems by being double light and taking a high jump.
Always consider yourself to be an invaluable jewel and stay in the container of BapDada’s heart, that is, remain constantly merged in remembrance of the Father and you will not experience any situation to be difficult and all your burdens will finish. With this easy yoga, become double light and take a high jump in your efforts and you will become an intense effort-maker. Whenever you experience anything to be difficult, sit in front of the Father and experience BapDada’s hand of blessings over you, for by doing this, you will find solutions to all problems in a second.
Slogan: The power of co-operation makes even something impossible possible; it is a fortress of safety.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

08-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे-तुम्हें अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, इसलिए अब तुम्हारी आंख किसी में भी डूबनी नहीं चाहिए”
प्रश्नः- जिन्हें पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य होगा, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वो अपना सब कुछ बाप को अर्पण कर देंगे, हमारा कुछ भी नहीं। बाबा हमारी यह देह भी नहीं है, यह तो पुरानी देह है, इनको भी छोड़ना है। उनका मोह सबसे टूटता जायेगा, नष्टोमोहा होंगे। उनकी बुद्धि में रहता कि यहाँ का कुछ भी काम नहीं आना है, क्योंकि यह सब हद का है।

ओम् शान्ति। बाप बच्चों को ब्रह्माण्ड और सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सुना रहे हैं। जो और कोई भी सुना नहीं सकते। एक गीता ही है, जिसमें राजयोग का वर्णन है, भगवान आकर नर से नारायण बनाते हैं। यह सिवाए गीता के और कोई शास्त्र में नहीं है। यह भी बाप ने बतलाया है, कहते हैं मैंने तुमको राजयोग सिखाया था। यह समझाया था कि यह ज्ञान कोई परम्परा नहीं चलता है। बाप आकर एक धर्म की स्थापना करते हैं। बाकी और सब धर्म विनाश हो जाते हैं। कोई भी शास्त्र आदि परम्परा नहीं चलते। और जो धर्म स्थापन करने आते हैं उस समय कोई विनाश नहीं होता है, जो सब खलास हो जाएं। भक्ति-मार्ग के शास्त्र पढ़ते ही आते हैं, इनका (ब्राह्मण धर्म का) भल शास्त्र है गीता, परन्तु वह भी भक्ति मार्ग में ही बनाते हैं क्योंकि सतयुग में तो कोई शास्त्र रहता ही नहीं और धर्मों के समय विनाश तो होता ही नहीं। पुरानी दुनिया खत्म होती नहीं जो फिर नई हो। वही चलती आती है। अभी तुम बच्चे समझते हो यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है। हमको बाप पढ़ा रहे हैं। गायन भी एक गीता का ही है। गीता जयन्ती भी मनाते हैं। वेद जयन्ती तो है नहीं। भगवान एक है, तो एक की ही जयन्ती मनानी चाहिए। बाकी है रचना, उनसे कुछ मिल नहीं सकता। वर्सा बाप से ही मिलता है। चाचा, काका आदि से कोई वर्सा नहीं मिलता। अभी यह है तुम्हारा बेहद का बाप, बेहद का ज्ञान देने वाला। यह कोई शास्त्र नहीं सुनाते हैं। कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग के हैं। इन सबका सार तुमको समझाता हूँ। शास्त्र कोई पढ़ाई नहीं। पढ़ाई से तो पद प्राप्त होता है, यह पढ़ाई बाप पढ़ा रहे हैं बच्चों को। भगवानुवाच बच्चों प्रति-फिर 5 हज़ार वर्ष बाद भी ऐसे ही होगा। बच्चे जानते हैं हम बाप से रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हैं। यह कोई और तो समझा न सके सिवाए बाप के। इस मुख कमल से सुनाते हैं। यह भगवान का लोन लिया हुआ मुख है ना, जिसको गऊमुख भी कहते हैं। बड़ी माता है ना। इनके मुख से ज्ञान के वर्शन्स निकलते हैं, न कि जल आदि। भक्ति मार्ग में फिर गऊमुख से जल दिखा दिया है। अभी तुम बच्चे समझते हो भक्ति मार्ग में क्या-क्या करते हैं। कितना दूर गऊमुख आदि पर जाते हैं पानी पीने। अभी तुम मनुष्य से देवता बन रहे हो। यह तो जानते हो-बाप कल्प-कल्प आकर मनुष्य से देवता बनाने के लिये पढ़ाते हैं। देखते हो कैसे पढ़ा रहे हैं। तुम सबको यह बतलाते हो-भगवान हमें पढ़ा रहे हैं। कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। तुम जानते हो सतयुग में थोड़े मनुष्य होते हैं। कलियुग में कितने ढेर मनुष्य हैं। बाप आकरके आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। मनुष्य से देवता बनने वाले बच्चों में दैवीगुण दिखाई देंगे। उनमें क्रोध का अंश भी नहीं होगा। अगर कभी क्रोध आ गया तो झट बाप को लिखेंगे, बाबा आज हमसे यह भूल हो गई। हमने क्रोध कर लिया, विकर्म कर लिया। बाप से तुम्हारा कितना कनेक्शन है। बाबा क्षमा करना। बाप कहेंगे क्षमा आदि होती नहीं। बाकी आगे के लिए ऐसी भूल नहीं करना। टीचर कोई क्षमा नहीं करते हैं। रजिस्टर दिखाते हैं-तुम्हारे मैनर्स अच्छे नहीं हैं। बेहद का बाप भी कहते हैं-तुम अपने मैनर्स देख रहे हो। रोज़ अपना पोतामेल देखो, किसको दु:ख तो नहीं दिया, किसको तंग तो नहीं किया? दैवीगुण धारण करने में टाइम तो लगता है ना। देह-अभिमान बड़ा ही मुश्किल से टूटता है। जब अपने को देही समझें तब बाप में भी लव जाए। नहीं तो देह के कर्मबन्धन में ही बुद्धि लटकी रहती है। बाप कहते हैं तुमको शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है, उनसे टाइम निकाल सकते हो। भक्ति के लिए भी टाइम निकालते हैं ना। मीरा कृष्ण की ही याद में रहती थी ना। पुनर्जन्म तो यहाँ ही लेती गई।

अभी तुम बच्चों को इस पुरानी दुनिया से वैराग्य आता है। जानते हैं इस पुरानी दुनिया में फिर पुनर्जन्म लेना ही नहीं है। दुनिया ही खत्म हो जाती है। यह सब बातें तुम्हारी बुद्धि में हैं। जैसे बाबा में ज्ञान है वैसे बच्चों में भी है। यह सृष्टि का चक्र और कोई की बुद्धि में नहीं है। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं, जिनकी बुद्धि में यह रहता है ऊंच ते ऊंच पतित-पावन बाप है, वह हमको पढ़ाते हैं। यह भी तुम ही जानते हो। तुम्हारी बुद्धि में सारा 84 का चक्र है। स्मृति रहती है-अभी इस नर्क में यह अन्तिम जन्म है, इनको कहा जाता है रौरव नर्क। बहुत गंद है, इसलिए सन्यासी लोग घरबार छोड़ जाते हैं। वह हो जाती है शारीरिक बात। तुम सन्यास करते हो बुद्धि से क्योंकि तुम जानते हो हमको अभी वापिस जाना है। सबको भूलना पड़ता है। यह पुरानी छी-छी दुनिया खत्म हुई पड़ी है। मकान पुराना होता है, नया बनकर तैयार होता है तो दिल में आता है ना-यह मकान टूट ही जायेगा। अभी तुम बच्चे पढ़ रहे हो ना। जानते हो नई दुनिया की स्थापना हो रही है। अभी थोड़ी देरी है। बहुत बच्चे आकर पढ़ेंगे। नया मकान अभी बन रहा है, पुराना टूटता जा रहा है। बाकी थोड़े दिन है। तुम्हारी बुद्धि में यह बेहद की बातें हैं। अब हमारी इस पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगती है। यह कुछ भी आखिर काम में नहीं आना है, हम यहाँ से जाना चाहते हैं। बाप भी कहते हैं पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगानी है। मुझ बाप को और घर को याद करो तो विकर्म विनाश हों। नहीं तो बहुत सज़ायें खायेंगे। पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। आत्मा को फुरना लगा हुआ है हमने 84 जन्म भोगे हैं। अब बाप को याद करना है, तब विकर्म विनाश होंगे। बाप की मत पर चलना है तब ही श्रेष्ठ जीवन बनेगी। बाप है ऊंच ते ऊंच। यह भी तुम ही जानते हो। बाप अच्छी रीति स्मृति दिलाते हैं, वह बेहद का बाप ही ज्ञान का सागर है, वही आकर पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं यह पढ़ाई भी पढ़ो, शरीर निर्वाह अर्थ भी सब कुछ करो। परन्तु ट्रस्टी होकर रहो।

जिन बच्चों को पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य होगा वह अपना सब कुछ बाप को अर्पण कर देंगे। हमारा कुछ भी नहीं। बाबा हमारी यह देह भी नहीं है। यह तो पुरानी देह है, इनको भी छोड़ना है, सबसे मोह टूटता जाता है। नष्टोमोहा हो जाना है। यह है बेहद का वैराग्य। वह हद का वैराग्य होता है। बुद्धि में है हम स्वर्ग में जाकर अपने महल बनायेंगे। यहाँ का कुछ भी काम नहीं आयेगा क्योंकि यह सब हद का है। तुम अभी हद से निकल बेहद में जाते हो। तुम्हारी बुद्धि में यह बेहद का ज्ञान ही रहना चाहिए। अभी और कोई में भी आंख नहीं डूबती है। अब तो अपने घर जाना है। कल्प-कल्प बाप आकर हमको पढ़ाए फिर साथ ले जाते हैं। तुम्हारे लिए यह कोई नई पढ़ाई नहीं है। तुम जानते हो कल्प-कल्प हम पढ़ते हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। सारी दुनिया में कितने ढेर मनुष्य हैं, परन्तु तुम थोड़ेही जानते हो, आहिस्ते-आहिस्ते यह ब्राह्मणों का झाड़ वृद्धि को पाता रहता है। ड्रामा प्लैन अनुसार स्थापना होनी ही है। बच्चे जानते हैं हमारी रूहानी गवर्मेंन्ट है। हम दिव्य दृष्टि से नई दुनिया को देखते हैं। वहाँ ही जाना है। भगवान भी एक है, वही पढ़ाने वाला है, राजयोग बाप ने ही सिखलाया था। उस समय लड़ाई भी बरोबर लगी थी अनेक धर्मों का विनाश, एक धर्म की स्थापना हुई थी। तुम भी वही हो, कल्प-कल्प तुम ही पढ़ते आये हो, वर्सा लेते आये हो। पुरूषार्थ हर एक को अपना करना है। यह है बेहद की पढ़ाई। यह शिक्षा कोई मनुष्य मात्र दे न सके।

बाप ने श्याम और सुन्दर का भी राज़ समझाया है। तुम भी समझते हो अभी हम सुन्दर बन रहे हैं। पहले श्याम थे। कृष्ण कोई अकेला थोड़ेही था। सारी राजधानी थी ना। अभी तुम समझते हो हम नर्कवासी से स्वर्गवासी बन रहे हैं। अभी तुमको इस नर्क से ऩफरत आती है। तुम अभी पुरूषोत्तम संगमयुग पर आ गये हो। इतने ढेर आते हैं, इनसे निकलेंगे फिर भी वही जो कल्प पहले निकले होंगे। संगमयुग को भी अच्छी रीति याद करना है। हम पुरूषोत्तम अर्थात् मनुष्य से देवता बन रहे हैं। मनुष्य तो यह भी नहीं समझते कि नर्क क्या है और स्वर्ग क्या है? कहते हैं सब कुछ यहाँ ही है, जो सुखी हैं वह स्वर्ग में हैं, जो दु:खी हैं वह नर्क में हैं। अनेक मत हैं ना। एक घर में भी अनेक मतें हो जाती हैं। बच्चों आदि में मोह की रग है, वह टूटती नहीं। मोहवश कुछ समझते थोड़ेही हैं कि हम कैसे रहते हैं। पूछते हैं बच्चे की शादी करायें? परन्तु बच्चों को यह भी लॉ (नियम) समझाया जाता है कि तुम स्वर्गवासी होने के लिए एक तरफ नॉलेज ले रहे हो, दूसरे तरफ पूछते हो उनको नर्क में डालें? पूछते हो तो बाबा कहेंगे जाकर करो। बाबा से पूछते हैं तो बाबा समझाते हैं इनका मोह है। अब ना करेंगे तो भी अवज्ञा कर देंगे। बच्ची की तो करानी ही है, नहीं तो संगदोष में खराब हो जाती है। बच्चों को नहीं करा सकते। परन्तु हिम्मत चाहिए ना! बाबा ने इनसे एक्ट कराया ना। इनको देखकर फिर और करने लग पड़े। घर में भी बहुत झगड़े लग पड़ते हैं। यह है ही झगड़ों की दुनिया, कांटों का जंगल है ना। एक-दो को काटते रहते हैं। स्वर्ग को कहा जाता है गार्डन। यह है जंगल। बाप आकर कांटों से फूल बनाते हैं। कोई विरले निकलते हैं, प्रदर्शनी में भल हाँ हाँ करते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं। एक कान से सुनते हैं और दूसरे कान से निकाल देते हैं। राजधानी स्थापन करने में टाइम तो लगता है ना। मनुष्य अपने को कांटा समझते थोड़ेही हैं। इस समय सूरत मनुष्य की भल है परन्तु सीरत बन्दर से भी बदतर है। परन्तु अपने को ऐसा समझते नहीं हैं तो बाप कहते हैं अपनी रचना को समझाना है। अगर नहीं समझते हैं तो फिर भगा देना चाहिए। परन्तु वह ताकत चाहिए ना। मोह का कीड़ा ऐसा लगा रहता है जो निकल न सके। यहाँ तो नष्टोमोहा बनना है। मेरा तो एक दूसरा न कोई। अब बाप आया है, लेने के लिए। पावन बनना है। नहीं तो बहुत सज़ा खायेंगे, पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। अब अपने को सतोप्रधान बनाने का ही फुरना लगा हुआ है। शिव के मन्दिर में जाकर तुम समझा सकते हो-भगवान ने भारत को स्वर्ग का मालिक बनाया था, अब वह फिर से बना रहे हैं, कहते हैं सिर्फ मामेकम् याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैरागी बन अपना सब कुछ अर्पण कर देना है। हमारा कुछ भी नहीं, यह देह भी हमारी नहीं। इनसे मोह तोड़ नष्टोमोहा बनना है।

2) कभी भी ऐसी कोई भूल नहीं करनी है जो रजिस्टर पर दाग़ लग जाए। सर्व दैवीगुण धारण करने हैं, अन्दर क्रोध का ज़रा भी अंश न हो।

वरदान:- डबल लाइट बन सर्व समस्याओं को हाई जम्प दे पार करने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव
सदा स्वयं को अमूल्य रत्न समझ बापदादा के दिल की डिब्बी में रहो अर्थात् सदा बाप की याद में समाये रहो तो किसी भी बात में मुश्किल का अनुभव नहीं करेंगे, सब बोझ समाप्त हो जायेंगे। इसी सहजयोग से डबल लाइट बन, पुरूषार्थ में हाई जम्प देकर तीव्र पुरूषार्थी बन जायेंगे। जब भी कोई मुश्किल का अनुभव हो तो बाप के सामने बैठ जाओ और बापदादा के वरदानों का हाथ स्वयं पर अनुभव करो इससे सेकण्ड में सर्व समस्याओं का हल मिल जायेगा।
स्लोगन:- सहयोग की शक्ति असम्भव बात को भी सम्भव बना देती है, यही सेफ्टी का किला है

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 June 2019

To Read Murli 7 June 2019 :- Click Here
08-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद और पढ़ाई से ही डबल ताज मिलेगा, इसलिए अपनी एम ऑबजेक्ट को सामने रख दैवीगुण धारण करो”
प्रश्नः- विश्व रचयिता बाप तुम बच्चों की कौन-सी खिदमत (सेवा) करते हैं?
उत्तर:- 1. बच्चों को बेहद का वर्सा दे सुखी बनाना, यह खिदमत है। बाप जैसी निष्काम सेवा कोई कर नहीं सकता। 2. बेहद का बाप किराये पर तख्त लेकर तुम्हें विश्व का तख्त नशीन बना देते हैं। खुद ताउसी तख्त पर नहीं बैठते लेकिन बच्चों को ताउसी तख्त पर बिठाते हैं। बाप के तो जड़ मन्दिर बनाते, उसमें उन्हें क्या टेस्ट आयेगा। मजा तो बच्चों को है जो स्वर्ग का राज्य-भाग्य लेते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रुहानी बच्चों को बाप कहते हैं कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों को समझाया है। बाप भी बोलते हैं, तो बच्चे भी बोलते हैं ओम् शान्ति क्योंकि आत्मा का स्वधर्म है शान्त। तुम अब जान गये हो कि हम शान्तिधाम से यहाँ आते हैं पहले-पहले सुखधाम में, फिर 84 पुनर्जन्म लेते-लेते दु:खधाम में आते हैं। यह तो याद है ना। बच्चे 84 जन्म लेते, जीव आत्मा बनते हैं। बाप जीव आत्मा नहीं बनते हैं। कहते हैं मैं टेप्रेरी इनका आधार लेता हूँ। नहीं तो पढ़ायेंगे कैसे? बच्चों को घड़ी-घड़ी कैसे कहेंगे कि मनमनाभव, अपनी राजाई को याद करो? इसको कहा जाता है सेकण्ड में विश्व की राजाई। बेहद का बाप है ना तो जरूर बेहद की खुशी, बेहद का वर्सा ही देंगे। बाप बहुत सहज रास्ता बताते हैं। कहते हैं अब इस दु:खधाम को बुद्धि से निकाल दो। जो नई दुनिया स्वर्ग स्थापन कर रहे हैं, उनका मालिक बनने लिए मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायें। तुम फिर से सतोप्रधान बन जायेंगे, इसको कहा जाता है सहज याद। जैसे बच्चे लौकिक बाप को कितना सहज याद करते हैं, वैसे तुम बच्चों को बेहद के बाप को याद करना है। बाप ही दु:ख से निकाल सुखधाम में ले जाते हैं। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं। बहुत सहज बात कहते हैं – अपने शान्तिधाम को याद करो, जो बाप का घर वह तुम्हारा घर है और नई दुनिया को याद करो, वह तुम्हारी राजधानी है। बाप तुम बच्चों की कितनी निष्काम सेवा करते हैं। तुम बच्चों को सुखी कर फिर वानप्रस्थ, परमधाम में बैठ जाते हैं। तुम भी परमधाम के वासी हो। उसको निर्वाणधाम, वानप्रस्थ भी कहा जाता है। बाप आते हैं बच्चों की खिदमत करने अर्थात् वर्सा देने। यह खुद भी बाप से वर्सा लेते हैं। शिवबाबा तो है ऊंच ते ऊंच भगवान्, शिव के मन्दिर भी हैं। उनका कोई बाप वा टीचर नहीं है। सारे सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान उनके पास है। कहाँ से आया? क्या कोई वेद-शास्त्र आदि पढ़े? नहीं। बाप तो है ज्ञान का सागर, सुख शान्ति का सागर। बाप की महिमा और दैवीगुणों वाले मनुष्यों की महिमा में फ़र्क है। तुम दैवीगुण धारण कर यह देवता बनते हो। पहले आसुरी गुण थे। असुर से देवता बनाना, यह तो बाप का ही काम है। एम-ऑबजेक्ट भी तुम्हारे सामने है। जरूर ऐसे श्रेष्ठ कर्म किये होंगे। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति अथवा हर बात समझाने में एक सेकण्ड लगता है।

बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों को पार्ट बजाना ही है। यह पार्ट तुमको अनादि, अविनाशी मिला हुआ है। तुम कितना वारी सुख-दु:ख के खेल में आये हो। कितना बार तुम विश्व के मालिक बने हो। बाप कितना ऊंच बनाते हैं। परमात्मा जो सुप्रीम सोल है, वह भी इतना छोटा है। वह बाप ज्ञान का सागर है। तो आत्माओं को भी आपसमान बनाते हैं। तुम प्रेम के सागर, सुख के सागर बनते हो। देवताओं का आपस में कितना प्रेम है। कभी झगड़ा नहीं होता। तो बाप आकर तुम्हें आपसमान बनाते हैं। और कोई ऐसा बना न सके। खेल स्थूलवतन में होता है। पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म फिर इस्लामी, बौद्धी आदि नम्बरवार इस माण्डवे में वा नाटकशाला में आते हैं। 84 जन्म तुम लेते हो। गायन भी है आत्मायें परमात्मा अलग रहे…….। बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों, पहले-पहले विश्व में पार्ट बजाने तुम आये हो। मैं तो थोड़े समय के लिए इनमें प्रवेश करता हूँ। यह तो पुरानी जुत्ती है। पुरुष की एक स्त्री मर जाती है तो कहते हैं पुरानी जुत्ती गई, अब फिर नई लेते हैं। यह भी पुराना तन है ना। 84 जन्मों का चक्र लगाया है। ततत्वम्, तो मैं आकर इस रथ का आधार लेता हूँ। पावन दुनिया में तो कभी मैं आता ही नहीं हूँ। तुम पतित हो, मुझे बुलाते हो कि आकर पावन बनाओ। आखरीन तुम्हारी याद फलीभूत होगी ना। जब पुरानी दुनिया खत्म होने का समय होता है, तब मैं आता हूँ। ब्रह्मा द्वारा स्थापना। ब्रह्मा द्वारा अर्थात् ब्राह्मणों द्वारा। पहले चोटी ब्राह्मण, फिर क्षत्रिय……. तो बाजोली खेलते हो। अब देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनना है। तुम 84 जन्म लेते हो। मैं तो एक ही बार सिर्फ इस तन का लोन लेता हूँ। किराये पर लेता हूँ। हम इस मकान के मालिक नहीं हैं। इनको तो फिर भी हम छोड़ देंगे। किराया तो देना पड़ता है ना। बाप भी कहते हैं, मैं मकान का किराया देता हूँ। बेहद का बाप है, कुछ तो किराया देते होंगे ना। यह तख्त लेते हैं, तुमको समझाने लिए। ऐसा समझाते हैं जो तुम भी विश्व के तख्तनशीन बन जाते हो। खुद कहते हैं, मैं नहीं बनता हूँ। तख्तनशीन अर्थात् ताउसीतख्त पर बिठाते हैं। शिवबाबा की याद में ही सोमनाथ का मन्दिर बनाया है। बाप कहते हैं इससे मुझे क्या टेस्ट आयेगी। जड़ पुतला रख देते हैं। मज़ा तो तुम बच्चों को स्वर्ग में है। मैं तो स्वर्ग में आता ही नहीं हूँ। फिर भक्ति मार्ग जब शुरू होता है तो यह मन्दिर आदि बनाने में कितना खर्चा किया। फिर भी चोर लूट ले गये। रावण के राज्य में तुम्हारा धन-दौलत आदि सब खलास हो जाता है। अभी वह ताउसी तख्त है? बाप कहते हैं जो हमारा मन्दिर बनाया हुआ था, वह मुहम्मद गज़नवी आकर लूट ले गये।

भारत जैसा सालवेन्ट और कोई देश नहीं। इन जैसा तीर्थ और कोई बन नहीं सकता। परन्तु आज तो हिन्दू धर्म के अनेक तीर्थ हो पड़े हैं। वास्तव में बाप जो सर्व की सद्गति करते हैं, तीर्थ तो उनका होना चाहिए। यह भी ड्रामा बना हुआ है। समझने में बहुत सहज है। परन्तु नम्बरवार ही समझते हैं क्योंकि राजधानी स्थापन हो रही है। स्वर्ग के मालिक यह लक्ष्मी-नारायण हैं। यह है उत्तम से उत्तम पुरुष जिनको फिर देवता कहा जाता है। दैवी गुण वाले को देवता कहा जाता है। यह ऊंच देवता धर्म वाले प्रवृत्ति मार्ग के थे। उस समय तुम्हारा ही प्रवृत्ति मार्ग रहता है। बाप ने तुमको डबल ताजधारी बनाया। रावण ने फिर दोनों ही ताज उतार दिये। अब तो नो ताज, न पवित्रता का ताज, न धन का ताज, दोनों रावण ने उतार दिये हैं। फिर बाप आकर तुमको दोनों ताज देते हैं – इस याद और पढ़ाई से इसलिए गाते हैं – ओ गॉड फादर हमारा गाइड बनो, लिबरेट भी करो। तब तुम्हारा नाम भी पण्डा रखा हुआ है। पाण्डव, कौरव, यादव क्या करत भये। कहते हैं बाबा हमको दु:ख के राज्य से छुड़ाकर साथ ले जाओ। बाप ही सचखण्ड की स्थापना करते हैं, जिसको स्वर्ग कहा जाता है। फिर रावण झूठ खण्ड बनाते हैं। वह कहते कृष्ण भगवानुवाच। बाप कहते हैं शिव भगवानुवाच। भारतवासियों ने नाम बदल लिया तो सारी दुनिया ने बदल लिया। कृष्ण तो देहधारी है, विदेही तो एक शिवबाबा है। अभी बाप द्वारा तुम बच्चों को माइट मिलती है। सारे विश्व के तुम मालिक बनते हो। सारा आसमान, धरती तुमको मिल जाती है। कोई की ताकत नहीं जो तुमसे छीन सके, पौना कल्प। उन्हों की तो जब वृद्धि होकर करोड़ों की अन्दाज में हों तब लश्कर ले आकर तुमको जीते। बाप बच्चों को कितना सुख देते हैं। उनका गायन ही है दु:ख-हर्ता, सुखकर्ता। इस समय बाप तुमको कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बैठ समझाते हैं। रावण राज्य में कर्म विकर्म बन जाते हैं। सतयुग में कर्म अकर्म हो जाते हैं। अभी तुमको एक सतगुरू मिला है, जिसको पतियों का पति कहते हैं क्योंकि वह पति लोग भी सब उसको याद करते हैं। तो बाप समझाते हैं यह कितना वन्डरफुल ड्रामा है। इतनी छोटी-सी आत्मा में अविनाशी पार्ट भरा हुआ है, जो कभी मिटने वाला नहीं है। इनको अनादि-अविनाशी ड्रामा कहा जाता है। गॉड इज वन। रचना अथवा सीढ़ी और चक्र सब एक ही है। न कोई रचता को, न रचना को जानते। ऋषि-मुनि भी कह देते हम नहीं जानते। अभी तुम संगम पर बैठे हो, तुम्हारी माया के साथ युद्ध है। वह छोड़ती नहीं है। बच्चे कहते हैं – बाबा, माया का थप्पड़ लग गया। बाबा कहते हैं – बच्चे, की कमाई चट कर दी! तुम्हें भगवान पढ़ाते हैं तो अच्छी रीति पढ़ना चाहिए। ऐसी पढ़ाई तो फिर 5 हज़ार वर्ष बाद मिलेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस दु:खधाम से बुद्धियोग निकाल नई दुनिया स्थापन करने वाले बाप को याद करना है, सतोप्रधान बनना है।

2) बाप समान प्रेम का सागर, शान्ति और सुख का सागर बनना है। कर्म, अकर्म और विकर्म की गति को जान सदा श्रेष्ठ कर्म करने हैं।

वरदान:- कैसे भी वायुमण्डल में मन-बुद्धि को सेकण्ड में एकाग्र करने वाले सर्वशक्ति सम्पन्न भव
बापदादा ने सभी बच्चों को सर्वशक्तियां वर्से में दी हैं। याद की शक्ति का अर्थ है – मन-बुद्धि को जहाँ लगाना चाहो वहाँ लग जाए। कैसे भी वायुमण्डल के बीच अपने मन-बुद्धि को सेकण्ड में एकाग्र कर लो। परिस्थिति हलचल की हो, वायुमण्डल तमोगुणी हो, माया अपना बनाने का प्रयत्न कर रही हो फिर भी सेकण्ड में एकाग्र हो जाओ – ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर हो तब कहेंगे सर्वशक्ति सम्पन्न।
स्लोगन:- विश्व कल्याण की जिम्मेवारी और पवित्रता की लाइट का ताज पहनने वाले ही डबल ताजधारी बनते हैं।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य – “जीवन की आश पूर्ण होने का सुहावना समय”

हम सभी आत्माओं की बहुत समय से यह आश थी कि जीवन में सदा सुख शान्ति मिले, अब बहुत जन्म की आशा कब तो पूर्ण होगी। अब यह है हमारा अन्तिम जन्म, उस अन्त के जन्म की भी अन्त है। ऐसा कोई नहीं समझे मैं तो अभी छोटा हूँ, छोटे बड़े को सुख तो चाहिए ना, परन्तु दु:ख किस चीज़ से मिलता है उसका भी पहले ज्ञान चाहिए। अब तुमको नॉलेज मिली है कि इन पाँच विकारों में फंसने कारण यह जो कर्मबन्धन बना हुआ है, उनको परमात्मा की याद अग्नि से भस्म करना है, यह है कर्मबन्धन से छूटने का सहज उपाय। इस सर्वशक्तिवान बाबा को चलते फिरते श्वांसों श्वांस याद करो। अब यह उपाय बताने की सहायता खुद परमात्मा आकर करता है, परन्तु इसमें पुरुषार्थ तो हर एक आत्मा को करना है। परमात्मा तो बाप, टीचर, गुरु रूप में आए हमें वर्सा देते हैं। तो पहले उस बाप का हो जाना है, फिर टीचर से पढ़ना है जिस पढ़ाई से भविष्य जन्म-जन्मान्तर सुख की प्रालब्ध बनेगी अर्थात् जीवनमुक्ति पद में पुरुषार्थ अनुसार मर्तबा मिलता है। और गुरु रूप में पवित्र बनाए मुक्ति देता है, तो इस राज़ को समझ ऐसा पुरुषार्थ करना है। यही टाइम है पुराना खाता खत्म कर नई जीवन बनाने का, इसी समय जितना पुरुषार्थ कर अपनी आत्मा को पवित्र बनायेंगे उतना ही शुद्ध रिकार्ड भरेंगे फिर सारा कल्प चलेगा, तो सारे कल्प का मदार इस समय की कमाई पर है। देखो, इस समय ही तुम्हें आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान मिलता है, हमको सो देवता बनना है और अपनी चढ़ती कला है फिर वहाँ जाके प्रालब्ध भोगेंगे। वहाँ देवताओं को बाद का पता नहीं पड़ता कि हम गिरेंगे, अगर यह पता होता कि सुख भोगना फिर गिरना है तो गिरने की चिंता में सुख भी भोग नहीं सकेंगे। तो यह ईश्वरीय कायदा रचा हुआ है कि मनुष्य सदा चढ़ने का पुरुषार्थ करता है अर्थात् सुख के लिये कमाई करता है। परन्तु ड्रामा में आधा-आधा पार्ट बना पड़ा है जिस राज़ को हम जानते हैं, परन्तु जिस समय सुख की बारी है तो पुरुषार्थ कर सुख लेना है, यह है पुरुषार्थ की खूबी। एक्टर का काम है एक्ट करने समय सम्पूर्ण खूबी से पार्ट बजाना, जो देखने वाले हेयर हेयर (वाह वाह) करें, इसलिए हीरो हीरोइन का पार्ट देवताओं को मिला है जिन्हों का यादगार चित्र गाया और पूजा जाता है। निर्विकारी प्रवृत्ति में रह कमल फूल अवस्था बनाना, यही देवताओं की खूबी है। इस खूबी को भूलने से ही भारत की ऐसी दुर्दशा हुई है, अब फिर से ऐसी जीवन बनाने वाला खुद परमात्मा आया हुआ है, अब उनका हाथ पकड़ने से जीवन नईया पार होगी।

TODAY MURLI 8 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 June 2019 :- Click Here

08/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by having remembrance and by studying will you receive a double crown. Therefore, imbibe divine virtues while keeping your aim and objective in front of you.
Question: How does the Father, the Creator of the World, serve you children?
Answer: 1) His service is to give you children the unlimited inheritance and make you happy. No one can do altruistic service like the Father does. 2) The unlimited Father rents a throne and makes you into the masters who are seated on the throne of the world. He Himself doesn’t sit on the peacock throne, but He seats you children on the peacock throne. People build non-living temples to the Father. What taste would He get from that? It is the children who receive their fortune of the kingdom of heaven who experience that pleasure.

Om shanti. The Father says to you sweetest, spiritual children: Consider yourselves to be souls and remember the Father. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children. The Father says “Om shanti” and the children also say “Om shanti” because the original religion of souls is peace. You now know that you come here from the land of peace. First of all, you go to the land of happiness, and then, while taking 84 rebirths, you go into the land of sorrow. You remember this. You children become living beings (embodied beings) and take 84 births. The Father does not become an embodied being. He says: I take the temporary support of this one. How else would He teach you? How would He repeatedly tell you children: “Manmanabhav! Remember your kingdom”? This is called receiving the kingdom of the world in a second. The Father is unlimited and so He would surely give you unlimited happiness and the unlimited inheritance. The Father shows you a very easy path. He says: Now remove this land of sorrow from your intellects. In order to become a master of the new world of heaven that is being established, remember Me and your sins will be cut away. You will then become satopradhan once again. This is called easy remembrance. Just as children remember their physical fathers so easily, similarly, you children have to remember the unlimited Father. The Father Himself removes you from the land of sorrow and takes you to the land of happiness. There is no mention of sorrow there. He tells you very easy things: Remember your land of peace – the Father’s home is your home – and remember the new world; that is your kingdom. The Father is serving you children so selflessly. He makes you children happy and then goes and sits in the supreme abode in the stage of retirement. You too are residents of the supreme abode. That is also called the land of nirvana, the land beyond sound. The Father comes to serve you children, that is, to give you the inheritance. This one himself receives the inheritance from the Father. Shiv Baba is God, the Highest on High. There are many Shiva Temples. He doesn’t have a Father or a Teacher. He has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world. Where did He get that from? Did He study any Vedas or scriptures? No. The Father is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness and Peace. There is a difference between the praise of the Father and the praise of human beings with divine virtues. You imbibe divine virtues and become those deities. Previously, you had devilish traits. It is the duty of the Father alone to change devils into deities. Your aim and objective is in front of you. You too must surely have performed such elevated actions. It takes a second to explain the philosophy of action, neutral action and sinful action, that is, to explain everything. The Father says: Sweetest children, you have to play your parts. You receive those partseternally. You have performed this play of happiness and sorrow so many times. You have become the masters of the world so many times. The Father is making you so elevated. God, who is the Supreme Soul, is so tiny. That Father is also the Ocean of Knowledge. So, He also makes you souls similar to Himself. You become oceans of love and oceans of happiness. Deities have so much love amongst themselves; they never fight. The Father comes and makes you similar to Himself. No one else can make you become like that. The play takes place in the corporeal world. First, there is the original, eternal, deity religion, and then those of Islam and the Buddhists etc. come onto this stage, which is this stage where you come and act, numberwise. You are the ones who take 84 births. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. The Father says: Sweetest children, you are the ones who came first to play their parts in the world. I enter this one for a short time. This one is an old shoe. When a man’s wife dies, he says: One old shoe has gone and I will now get another new one. This too is an old body (of Brahma Baba). He has been around the cycle of 84 births. The same applies to you. So, I come and take the support of this chariot. I never enter the pure world. You are impure and you call out to Me to come and purify you. Eventually, your remembrance will be fruitful. I come when it is time for the old world to end. Establishment is carried out through Brahma. “Through Brahma” means through the Brahmins. First is the topknot, Brahmins, then the deities, then the warriors… You do a somersault. You now have to renounce body consciousness and become soul conscious. You take 84 births. I take this body on loan just once; I rent it. I am not the landlord of this building. I will leave this one. He has to be given rent. The Father also says: I give rent for this building. He is the unlimited Father and so He must be giving some rent. He takes this throne in order to explain to you. He explains to you in such a way that you become seated on the throne of the world. He says: I Myself do not become that. He seats you on the throne, which is the peacock throne. The Somnath Temple has been created in memory of Shiv Baba. The Father says: What taste would I get from that? They simply put a non-living idol there. You children experience pleasure in heaven. I do not even go to heaven. Then, when the path of devotion begins, you spend so much money building those temples etc. Even then, thieves loot them. Your wealth and prosperity all finish in the kingdom of Ravan. Does that peacock throne exist now? The Father says: Mahmud Guznavi came and looted the temple that was built to Me. No other land is as solvent as Bharat was. No other place can become a pilgrimage place like this one. However, today, there are so many pilgrimage places in the Hindu religion. In fact, the pilgrimage place should be where the Father who grants everyone salvation is. This too is in the predestined drama. This is very easy to understand, but you understand it numberwise, because a kingdom is being established. Lakshmi and Narayan are the masters of heaven. They are the most elevated human beings and they are called deities. Those with divine virtues are called deities. Those who belonged to the highest deity religion belonged to the family path. At that time, there was just your family path. The Father made you double crowned. Ravan then took off both your crowns. Now, there are no crowns; neither the crown of wealth nor of purity. Ravan has taken off both your crowns. The Father comes and gives you both crowns once again by your having remembrance and by studying. This is why it is remembered: O God, the Father, become our Guide and liberate us! This is why you are called guides. What are the Pandavas, the Kauravas and the Yadavas doing? They say: Baba, liberate us from the kingdom of sorrow and take us back with You. The Father alone establishes the land of truth, which is called heaven. Then Ravan, makes it into the land of falsehood. They say: God Krishna speaks. The Father says: God Shiva speaks. The people of Bharat changed the name and so the whole world also changed that name. Krishna is a bodily being. Shiv Baba alone is the bodiless One. You children are now receiving mightfrom the Father. You become the masters of the whole world. You receive the whole sky and the earth. No one has the power to snatch that away from you for three quarters of the cycle. When their population expands and reaches millions, they bring their army and conquer you. The Father gives you children so much happiness. He is praised as the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. At present, the Father is sitting here and explaining to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. In the kingdom of Ravan, actions become sinful actions. In the golden age, actions are neutral actions. You have now found the one Satguru who is called the Husband of all husbands because all of those husbands also remember that One. So, the Father explains: This is such a wonderful drama! An imperishable part is recorded in such a tiny soul, and it will never be erased. This is called the eternal and imperishable dramaGod is One. The creation, that is, the cycle and the ladder, are all the same. No one knows the Creator or creation. Rishis and munis also say: We do not know. You are now sitting at the confluence age and your battle is with Maya; she doesn’t leave you alone. Children say: Baba, I was slapped by Maya. Baba says: Children, you have lost everything you had earned. God is teaching you and so you should study well. Only after 5000 years will you receive such a study again. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove your intellect’s yoga from this land of sorrow and remember the Father who establishes the new world. Become satopradhan.
  2. Become an ocean of love and an ocean of peace and happiness, like the Father. Understand the philosophy of action, neutral action and sinful action and constantly perform elevated actions.
Blessing: May you be filled with all powers and stabilise your mind and intellect in a second, no matter what the atmosphere is.
BapDada has given all of you children all the powers as your inheritance. “The power of remembrance” means to be able to focus your mind and intellect wherever you want, and to be able to stabilize your mind and intellect in a second whatever the atmosphere. The situation may be of upheaval, the atmosphere may be tamoguni, Maya may be trying to make you belong to her but, in spite of that you must become stable in a second. When you have such controlling power, you would then be said to be one with all powers.
Slogan: Those who wear the crowns of responsibility for world benefit and the light of purity become doublecrowned.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari.

The wonderful time of having the hopes of your life fulfilled.

All of us souls have had the hope for a long time of having constant happiness and peace in our lives, and so, the hopes that we have had for a long time shall of course be fulfilled at some point. This is now our final birth and it is now the end of that final birth. No one should think: I am still young: Young or old – everyone needs happiness, but, we should first of all have the knowledge of what it is that causes sorrow. You have now received the knowledge that by having remembrance of God you have to burn away the bondage of karma which has been created because of your being trapped in the five vices. This is the easy way of being liberated from the bondage of karma. Remember the Almighty Authority, Baba, in every breath while walking and moving around. It is God, Himself, who comes and and helps us by showing this method, but each soul has to make the effort for himself. God comes in the form of the Father, Teacher and Guru and gives us the inheritance. So, we first have to belong to that Father, and we then have to study with the Teacher, through which our future reward of happiness will be created for birth after birth. This means we shall receive a status for liberation-in-life according to the efforts we make. In the form of the Guru, He makes us pure and grants us liberation, and so we have to understand this secret and make such effort. This is the time to finish the old accounts and create a new life. At this time, according to the efforts we make to purify our souls, a pure record will accordingly be recorded which will then continue for the whole cycle. So, everything for the whole cycle depends on the income earned at this time. Look, it is only at this time that you receive the knowledge of the beginning, middle and end: we have to become deities and this is our ascending stage and we shall then go there and experience our reward. There, the deities are not aware of what will happen afterwards, that they will descend. If they knew that they are to experience happiness and would then fall down, then, by worrying about their falling, they would not even enjoy their happiness. So, the Godly law has been created which is that people constantly try to ascend, that is, they are always earning for their happiness. However, the part in the drama, is of half and half and we know this secret. However, when it is the time for happiness, we then have to make effort and claim that happiness. This is the speciality of effort. The duty of actors is to play their parts with great speciality at the time of acting so that those who come to see them praise them. This is why the deities have received the parts of the hero and heroine and their memorial is remembered and worshipped. To stay in a viceless household and have a stage like a lotus is the speciality of deities. It is because of forgetting this speciality that Bharat has reached this unfortunate state. Now, God, Himself, has come to make us create such a life like that once again. By catching hold of His hand, your boat of life will go across.

TODAY MURLI 8 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 June 2018 :- Click Here

08/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to follow BapDada’s directions of shrimat and become soul conscious. While seeing the image (of Brahma), remember the Father without an image.
Question: Due to which greatness are you children remembered as lucky stars?
Answer: Due to the greatness of purity. You become pure in this final birth and do the service of making Bharat pure. This is why you lucky stars are even more elevated than the deities. This birth of yours is as valuable as a diamond. You are very elevated servers. At this time, the soul in the Brahma form is even higher than when in the Shri Krishna form because he belongs to the Father at this time. Shri Krishna experiences his reward.
Song: You are the portrait of tomorrow.

Om shanti. The Father speaks to the children. The Father is incorporeal and the children are also incorporeal. However, you have to play your part s through the corporeal costumes you have taken. The Father says to the children who play their part s in this way: Now become soul conscious! Have the faith that you are a soul. Don’t say: I, the soul, am the Supreme Soul. It was by saying this that you pushed the Father into the cycle of 84 births. You considered yourself to be the Father and you put Him in the cycle of 84 births. By saying this, you went into the extreme depths of hell. The boat has begun to sink. You are now receiving shrimat. You children know that two types of instructions are remembered. One is shrimat. This shrimat is God’s, that is, it is the instructions of the unlimited Father. They have inserted Krishna’s name. That is wrong. Krishna cannot be called the Father. There are three fathers. One is the Highest on High, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of souls. The second one is Prajapita Brahma. He cannot be called the Supreme Soul; he is the Father of People. This one’s name is also glorified. Krishna cannot be called Prajapita. The third is a physical father. The unlimited Father says: Children, may you be soul conscious. You are now receiving directions of shrimat. The instructions of both continue at the same time. You feel that Shiv Baba is explaining these elevated versions to you. Instead of saying “Trimurti Shiva”, they have mistakenly said “Trimurti Brahma”. However, there is no meaning in that. By them saying “Trimurti Brahma,” the instructions of Brahma are remembered. They have removed Shiva. They say that Brahma came down from the subtle region and gave directions! You have now understood this. Prajapita Brahma is called the vyakt (gross) Brahma. At present, you are vyakt Brahmins and you will then become avyakt and perfect Brahmins; you Brahmins will become residents of the subtle region. The perfect Brahma and perfect Saraswati both reside there in the subtle region. Vishnu is a dual-form anyway. Two arms are of Lakshmi and two of Narayan. These instructions are very well known. God speaks: It is Shiva who gives Brahma instructions. This one is named Brahma. Brahma exists here in the impure world. This one cannot be called the highest. The two forms of Vishnu – Lakshmi and Narayan – are then in heaven. It is said: Dev, Dev, Mahadev. So, Shankar is Mahadev. You children understand that Shiva is the highest-on-high Father and He creates the creation of the subtle region. The main thing is to follow shrimat. Brahma too became well known by following shrimat. Only the one Brahma is the especially beloved child. Shiv Baba is one and Brahma is also one. “Prajapita Brahma” is said. “Prajapita Vishnu” or “Prajapita Shankar” is not said. You are now sitting in front of Prajapita Brahma. The Father says: While living at home with your families, have the faith that you are souls. Constantly make effort to remember Me alone. Then it is a matter of renunciation. It is said: Knowledge, devotion, disinterest. You have renunciation through disinterest. Sannyasis first make you disinterested by saying that happiness is like the droppings of a crow. This is why they leave their households. It is said that Bharat was heaven in the golden age. Those who reside in hell say that they were residents of heaven. It is in the intellects of you children that there were only deities in heaven. In ancient Bharat they had everything – puritypeace and prosperity. Human beings who are residents of hell sing the praise of the Father who established heaven: You are the Ocean of Happiness, the Ocean of Peace. You receive the inheritance of liberation-in-life from that Father in a second. Baba repeatedly asks you: With whom are you moving along? Only from Shiv Baba will you receive your inheritance. You should only keep Shiv Baba in your intellects. You will receive a lot of happiness in heaven through that. You say that you are moving along with Shiv Baba. A new person would say that Shiv Baba is incorporeal, and that this one is Brahma, and so how can you be moving along with Shiv Baba? He is without an image. You children know that you are sitting personally in front of Shiv Baba. Shiv Baba doesn’t have a subtle or physical form. That incorporeal One only comes in this one’s body and tells you that this one doesn’t know his own births. You now know that you have truly completed your 84 births; 84 births are remembered. Lakshmi and Narayan are in the golden age and so they definitely go round the cycle of 84 births. Those of other religions come here later. They don’t take as many births. At first, souls are satopradhan and, later, they become tamopradhan. So, this is God’s shrimat. He also gives instructions to Brahma. However, because he is the especially beloved child, he imbibes it very well and explains to you. Sometimes, He too comes and explains. He says: Children, may you be soul conscious! Both Shiv Baba and Brahma say: May you be soul conscious! You are now sitting personally in front of them in a practical way. He is the One without an image and you are those with an image. You tell everyone: O brother, O soul, remember the Father. He speaks to souls. Caution one another and make progress. The Father says through the body of Brahma: By remembering Me, your Father, you will receive the inheritance of heaven. You mustn’t be influenced by those evil spirits. The foremost vice is impure arrogance. Let go of body consciousness. Become soul conscious. Since you are brothers, there definitely has to be the Father. Brahma is the father of you brothers and sisters. The Father of the brothers is the incorporeal One. This one is corporeal. We are all originally incorporeal and we then come to play our part s. These are the versions of Shri Shri God Shiva. Krishna is not God. This one is called Prajapita Brahma. Brahma is more elevated than Krishna. At this time, Brahma is higher than Krishna because the soul was Krishna in the golden age. He has come to belong to the Father in his 84th birth. Therefore, the soul as Brahma is better than as Krishna because he is serving at this time. The soul in Krishna will simply reap the reward. Therefore, who is the more elevated of the two? Is it Krishna, who takes the first birth of the 84 births or is it Brahma of this time? In fact, this birth is considered to be as valuable as a diamond because it is here that you have attainment. There, you would not say that you have attainment. It is at this time that you receive all the property. You are very elevated servers. You make Bharat into heaven, from impure to pure and then you rule it. You are the lucky stars and this is why everyone bows down to you. This is the greatness of purity. This is why the Father says: Lust is the greatest enemy. It has made you impure and you now have to conquer it. The more yoga you have with Me, the Almighty Authority, the purer you will continue to become. You were choking in the ocean of poison for 63 births. This is now your final birth. Sinners like Ajamil have been remembered. In the golden age, there is just the one pure religion of being faithful to one (husband), the pure religion. There is nothing but constant happiness there. Here, people are impure. Sannyasis were satopradhan at first and so they were powerful. They would receive food wherever they were in the forests. They had the power of purity. It wasn’t that they had the power of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. You receive His power. The kingdom of Maya begins in the copper age. The kingdom of Ravan, the five vices, continues for half the cycle. Human beings don’t understand who the Purifier is. They consider the Ganges to be the Purifier. They don’t know the Supreme Father at all. They say that God and His creation are infinite and that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. If it were like that, the population of the deity religion would be larger. The population of Christians, who came later, is now larger. The Father explains this. He gives you this food for your intellects. Your intellects now work so much. The intellects of human beings don’t work now. The lock of knowing the Creator and the beginning, the middle and the end of the creation is locked. Theirs is limited renunciation and hatha yoga. Yours is unlimited renunciation and Raja Yoga. You become kings of kings, the masters of heaven. Those who are impure at this time do not tell you these secrets. They relate the 18 chapters of the Gita and give such vast explanations. They have made so many Gitas. They all have their own opinions. They cannot understand the Gita. Krishna is not God, so how could they understand the Gita? They don’t understand anything at all. You now know that all of them belong to the path of devotion. The five evil spirits have made them into sinners like Ajamil. It is numberwise; they cannot be the same. It is explained that God is One; He comes and teaches you Raja Yoga. Lakshmi, Narayan and their dynasty are becoming satopradhan from tamopradhan. The world history and geography has to repeat once again. First of all, there has to be this faith: Baba, I will now only follow Your shrimat. The fortune of you children is now awakening. You are becoming the masters of the world. The fortune of everyone else is sleeping; they are very unhappy. Original, eternal Bharat was heaven; it is no longer that. They have become tamopradhan and impure. The Supreme Soul is called the Purifier. Krishna is not called that. In heaven, the light of everyone remains ignited. It is said: Deepmala (rosary of lights). Now the rosary is extinguished. The Father says: This is the rosary of My souls (who belong to Me). First, I make the rosary of souls and I then make the rosary of Vishnu. Shiv Baba makes this through Brahma. It has been explained that the rosary of Brahmins cannot be created because sometimes you climb as high as the sky and sometimes you continue to fall down. You change from having intellects with faith to having intellects with doubt. Today, you are very strong Brahmins, you make others the same as yourselves, whereas tomorrow you become shudras. Shiv Baba says: This is why a rosary of Brahmins cannot be created. You are making effort. The rosary of Rudra will be created and this is why you are having yoga. When you have full yoga, the vessels of your intellects will become pure and you will also be able to imbibe. You claim the inheritance by remembering the Father. Your sight is drawn towards your inheritance. Children have their sight on their inheritance from their physical father. Some children say: When will this old man die so that we can receive his property? Some fathers are so miserly that they don’t give anything to their children. They don’t even give housekeeping money to their wives. The Father says: The main thing is to have faith in the intellect. You are holding on to the hand of the One without an image. He says through this one with an image: Remember Me! Your intellects should be like that of a genie. Shiv Baba resides in the supreme abode. Shiv Baba must now be speaking the murli in Madhuban. Repeatedly remember Shiv Baba. You are now sitting here. He says: Constantly remember Me alone and you will become a bead of My rosary. This is the knowledge of the sacrificial fire of Rudra. Brahmins are definitely needed for this. It is not written in the scriptures that Jagadamba was a Brahmin. Only the Father explains this. However, Maya is also very strong. Although you have faith, Maya quickly brings doubt. Then your intellects don’t work to take shrimat and the status is destroyed. Those who ascend taste the sweetness of Paradise, whereas those who fall are totally crushed to pieces and receive a low status among the subjects. You children are the lucky stars of knowledge. You have a huge responsibility. Baba says: Remain cautious and don’t indulge in vice. Your business is to purify the impure. You mustn’t cause anyone sorrow. Make them constantly happy. The Father says “Child, child” even though he is old. He even calls the soul of this one “Child”. This soul too calls that One, “Father”. You have to follow shrimat at every step. All the centres belong to Shiv Baba, not to a human being. Shiv Baba is carrying out establishment through this one. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Feed your intellect with the food of knowledge every day and make it powerful. Make the vessel of your intellect pure with yoga.
  2. With the faith that you are holding on to the hand of the Father without an image, repeatedly remember the Father. Don’t cause anyone sorrow.
Blessing: May you be a flying bird and overcome all problems by enabling your eternalsanskars to emerg e.
In your eternal form, all of you are those who fly but, because of a burden, instead of being a flying bird, you have each become a caged bird. Now, enable your eternal sanskars to emerge once again, that is, remain stable in your angelic form. This is called, “easy effort”. When you become a flying bird, adverse situations will remain down below and you will go up above. This is the solution to all problems.
Slogan: To consider there to be benefit at every step and to give the donation of power of peace to every soul is real service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 June 2018

To Read Murli 7 June 2018 :- Click Here
08-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें बापदादा की श्रीमत के डायरेक्शन पर चल देही-अभिमानी बनना है, चित्र को देखते हुए भी विचित्र बाप को याद करना है”
प्रश्नः- किस एक बलिहारी के कारण तुम बच्चे लकी स्टार्स गाये हुए हो?
उत्तर:- पवित्रता की बलिहारी के कारण। तुम इस अन्तिम जन्म में पवित्र बन भारत को पवित्र बनाने की सेवा करते हो, इसलिए तुम लकी स्टार्स, देवताओं से भी ऊंच हो। तुम्हारा यह जन्म हीरे जैसा है। तुम बहुत ऊंच सेवाधारी हो। ब्रह्मा की आत्मा इस समय श्रीकृष्ण से भी ऊंच है, क्योंकि वह बाप की बनी है। श्रीकृष्ण तो प्रालब्ध भोगते हैं।
गीत:- आने वाले कल की तुम तस्वीर हो…..

ओम् शान्ति। बाप कहे बच्चों प्रति। बाप भी निराकार बच्चे भी निराकार हैं। परन्तु यह जो साकारी चोला लिया है, इनसे पार्ट बजाना है। ऐसे पार्ट बजाने वाले बच्चों से बाप कहे अब देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा निश्चय करो। ऐसे न कहो – अहम् आत्मा सो परमात्मा। यही तो तुम बाप को 84 जन्मों के चक्र में ढकेल देते हो। अपने को बाप समझ 84 जन्मों के चक्र में डाल दिया है। यह कहने से तुम रसातल में चले गये हो। बेड़ा डूबना शुरू हुआ। अब तुमको श्रीमत मिलती है। बच्चे जानते हैं दो मत गाई हुई हैं। एक है श्रीमत। यही भगवान की श्रीमत अर्थात् बेहद बाप की मत है। उन्होंने कृष्ण का नाम डाल दिया है। वह तो रॉग है। कृष्ण को बाप नहीं कह सकते। बाप होते हैं तीन। एक ऊंच ते ऊंच परमपिता परमात्मा, आत्माओं का बाप, दूसरा है प्रजापिता ब्रह्मा। इनको परम-पिता नहीं कहेंगे। यह तो प्रजा का पिता हो गया। इनका नाम भी बाला है। कृष्ण को प्रजापिता नहीं कहेंगे। तीसरा है लौकिक बाप। बेहद का बाप कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। अब श्रीमत के तुमको डायरेक्शन मिलते हैं। दोनों की मत इकट्ठी चलती है। तुम महसूस करते हो – यह महावाक्य शिवबाबा समझा रहे हैं। त्रिमूर्ति शिव के बदले भूल से त्रिमूर्ति ब्रह्मा कह दिया है। परन्तु इसका अर्थ कुछ नहीं निकलता। त्रिमूर्ति ब्रह्मा कहने से ब्रह्मा की मत गाई हुई है। शिव को उड़ा दिया है। कहते हैं ब्रह्मा भी उतर आये। अब ब्रह्मा तो सूक्ष्मवतन से आकर मत देवे। अब तुमने यह समझा है, प्रजापिता ब्रह्मा को व्यक्त ब्रह्मा कहा जाता है। तुम अभी व्यक्त ब्राह्मण हो, फिर अव्यक्त सम्पूर्ण ब्राह्मण बनते हो। फिर तुम सूक्ष्मवतनवासी ब्राह्मण बन जायेंगे। सम्पूर्ण ब्रह्मा, सम्पूर्ण सरस्वती – दोनों सूक्ष्मवतन में वहाँ रहते हैं। विष्णु तो हैं ही युगल। दो भुजा लक्ष्मी की, दो भुजा नारायण की। अब यह मत तो नामीग्रामी है। भगवानुवाच, ब्रह्मा को मत देने वाला है शिव। इनका नाम रखा है ब्रह्मा। ब्रह्मा है यहाँ पतित दुनिया में। इनको ऊंच नहीं कहना चाहिए। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण फिर यहाँ स्वर्ग में आते हैं। देव-देव महादेव कहा जाता है ना। तो महादेव हो गया शंकर। बच्चे तो समझते हैं शिव है ऊंच ते ऊंच बाप। फिर सूक्ष्मवतन की रचना रचते हैं। मूल बात है श्रीमत पर चलना। ब्रह्मा भी श्रीमत पर चल इतना नामीग्रामी बना। मुरब्बी बच्चा एक ही ब्रह्मा है। शिवबाबा भी एक, ब्रह्मा भी एक ही है। प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है ना। प्रजापिता विष्णु व प्रजापिता शंकर नहीं कहेंगे। अभी तुम प्रजापिता ब्रह्मा के सामने बैठे हो। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते अपने को आत्मा निश्चय करो। निरन्तर मुझे याद करने का पुरुषार्थ करो, फिर है त्याग की बात। ज्ञान, भक्ति, वैराग्य कहते हैं ना। वैराग्य से त्याग होता है। सन्यासी पहले वैराग्य दिलाते हैं कि यह काग विष्टा समान सुख है इसलिए हम घरबार छोड़ते हैं। कहते भी हैं कि भारत सतयुग में स्वर्ग था। नर्क में रहने वाले कहते हैं कि हम स्वर्ग वासी थे। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है कि स्वर्ग में देवी-देवता ही रहते थे। प्राचीन भारत में प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी सब थी। नर्कवासी मनुष्य स्वर्ग स्थापन करने वाले बाप की महिमा गाते हैं – आप सुख के सागर हो, शान्ति के सागर हो। इस बाप से ही सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा मिलता है। बाबा घड़ी-घड़ी कहते हैं किसके साथ चल रहे हो? शिवबाबा से ही वर्सा मिलना है। बुद्धि में शिवबाबा ही याद रहे। उनसे स्वर्ग में अथाह सुख मिलेंगे। तुम कहेंगे हम शिवबाबा के साथ चल रहे हैं। कोई नया होगा तो वह कहेगा कि शिवबाबा तो निराकार है। यह ब्रह्मा है, तुम शिवबाबा के साथ कैसे चल रहे हो? विचित्र है ना। तुम बच्चे जानते हो हम शिवबाबा के सम्मुख बैठे हैं। शिवबाबा का कोई आकार साकार रूप है नहीं। वह निराकार इनके ही शरीर में आते हैं। इनमें आकर बतलाते हैं। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। अभी तुम जानते हो बरोबर हमने 84 जन्म पूरे किये। चौरासी जन्म ही गाये जाते हैं। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण थे, तो जरूर यही 84 का चक्र लगाते हैं। और धर्म वाले तो बाद में आते हैं, वह इतने जन्म नहीं लेते। पहले आत्मा सतोप्रधान होती है, फिर पिछाड़ी में तमोप्रधान बनती है। तो यह है श्रीमत भगवान की। ब्रह्मा को भी वह मत देते हैं। परन्तु मुरब्बी बच्चा होने कारण अच्छी रीति धारण कर समझाते हैं। कभी वह भी आकर समझाते हैं। कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। शिवबाबा भी कहते हैं, ब्रह्मा भी कहते हैं देही-अभिमानी भव। अब तुम प्रैक्टिकल में सम्मुख बैठे हो। वह है विचित्र। तुम हो चित्र वाले। सबको कहते हो – हे भाई, हे आत्मायें, बाप को याद करो। आत्माओं से बात करते हैं। एक दो को सावधान कर उन्नति को पाओ। यह ब्रह्मा के तन द्वारा बाप कहते हैं – मुझ बाप को याद करने से स्वर्ग का वर्सा मिलेगा। इन भूतों के वश नहीं होना। पहला नम्बर है अशुद्ध अहंकार। बॉडी कॉन्ससनेस छोड़ दो। सोल कॉन्सस बनो। भाई-भाई हो तो जरूर बाप भी होगा। ब्रदर्स-सिस्टर्स का बाप हो गया ब्रह्मा। ब्रदर्स-ब्रदर्स का बाप है निराकार। यह है साकार। हम सब असुल हैं निराकारी। फिर पार्ट बजाने आते हैं। यह श्री श्री शिव भगवानुवाच। कृष्ण भगवान नहीं है। इनको ही प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है। कृष्ण से भी ब्रह्मा ऊंच हो गया। इस समय ब्रह्मा कृष्ण के ऊपर है क्योंकि कृष्ण की आत्मा सतयुग में थी। वह इस 84वें जन्म में बाप की आकर बनी है। तो कृष्ण की आत्मा से भी यह अच्छी हुई ना क्योंकि इस समय सेवा करते हैं। कृष्ण की आत्मा तो सिर्फ प्रालब्ध भोगेगी। तो दोनों में कौन बड़ा, कौन ऊंच हुआ? 84 जन्म में जो पहला जन्म वाला कृष्ण है वह ऊंच या इस समय वाला ब्रह्मा ऊंच? वास्तव में हीरे जैसा जन्म तो यह है क्योंकि यहाँ तुमको प्राप्ति होती है। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि प्राप्ति होती है। इस समय ही तुमको सारी प्रापर्टी मिलनी है।

तुम बहुत ऊंच सेवाधारी हो। तुम भारत को स्वर्ग, पतित को पावन बनाकर फिर इस पर राज्य करने वाले हो। तुम हो लकी स्टार्स तब तो सब माथा टेकते हैं ना। यह सारी पवित्रता की बलिहारी है इसलिए बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, जिसने तुमको अपवित्र बनाया, उनको जीतो। मुझ सर्वशक्तिमान के साथ जितना योग लगायेंगे, उतना पवित्र होते जायेंगे। तुमने 63 जन्म विषय सागर में गोते खाये। अभी यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। अजामिल जैसे पापी गाये हुए हैं। सतयुग में है ही एक पतिव्रता, पावन धर्म। सदैव सुख ही सुख रहता है। यहाँ तो हैं पतित। सन्यासी पहले सतोप्रधान थे तो बहुत तीखे थे। कहाँ भी जंगलों में उनको भोजन मिलता था। पवित्रता की ताकत थी। ऐसे नहीं कि परमपिता परमात्मा शिव की ताकत थी। तुमको उनकी ताकत मिलती है। माया का राज्य शुरू होता है द्वापर से। पाँच विकारों रूपी रावण का राज्य आधाकल्प चलता है। मनुष्य समझते नहीं कि पतित-पावन कौन? गंगा को ही पतित-पावनी समझ लिया है। परमात्मा को जानते ही नहीं। कह देते हैं कि परमात्मा और उनकी रचना बेअन्त है। सतयुग की आयु लाखों वर्ष है। अगर ऐसा होता तो देवता धर्म वालों की संख्या ज्यादा होनी चाहिए। अभी तो क्रिश्चियन लोग जो बाद में आये उन्हों की संख्या ज्यादा हो गई है। यह बाप समझाते हैं। बुद्धि के लिए यह भोजन देते हैं। तुम्हारी बुद्धि अब कितना काम करती है! मनुष्यों की बुद्धि अब काम नहीं करती। रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानने का ताला बन्द है। उनका है हद का सन्यास, हठयोग। तुम्हारा है बेहद का सन्यास, राजयोग। तुम राजाओं का राजा स्वर्ग के मालिक बनते हो। इस समय जो पतित हैं, वह थोड़ेही यह राज़ बतायेंगे। गीता सुनाते हैं, 18 अध्याय का कितना लम्बा अर्थ बैठ निकालते हैं! कितनी गीतायें बनाई हैं! सबकी अपनी-अपनी मत है। गीता को समझ नहीं सकते। कृष्ण भगवान ही नहीं, फिर गीता को समझें कैसे। कुछ भी समझते नहीं। अभी तुम जानते हो – वह सब हैं ही भक्तिमार्ग के। पाँच भूतों ने अजामिल जैसा पापी बना दिया है। नम्बरवार तो होते ही हैं। एक जैसे तो होते नहीं। समझाया जाता है – भगवान एक है, वह आकर राजयोग सिखलाते हैं। लक्ष्मी-नारायण और उनकी डिनायस्टी तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रही है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर से रिपीट होनी है। पहले तो निश्चय चाहिए। बाबा, बस अब हम तो आपकी ही श्रीमत पर चलेंगे। तुम बच्चों की तकदीर जग रही है। तुम विश्व के मालिक बनते हो। और सबकी तकदीर सोई हुई है। बहुत दु:खी हैं। आदि सनातन भारत स्वर्ग था। अब नहीं है। तमोप्रधान पतित बन गये हैं। पतित-पावन परमात्मा को कहा जाता है। कृष्ण को नहीं कहा जाता। स्वर्ग में सबकी ज्योति जगी रहती है। दीपमाला कहते हैं ना। अभी तो उझाई हुई माला है। बाप कहते हैं – यह मेरी आत्माओं की माला है। पहले आत्माओं की माला बनाता हूँ। फिर विष्णु की माला बनाता हूँ। शिवबाबा बनाते हैं ब्रह्मा द्वारा। यह भी समझाया है – ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती क्योंकि कभी आसमान पर चढ़ते रहते, कभी नीचे गिरते रहते। निश्चय बुद्धि से बदल संशय बुद्धि बन पड़ते हैं। आज पक्के ब्राह्मण हैं, औरों को आप समान बनाते हैं, कल शूद्र बन जाते हैं इसलिए शिवबाबा कहते हैं ब्राह्मणों की माला बन नहीं सकती है। तुम पुरुषार्थ करते हो, रुद्र माला बनेंगे इसलिए योग लगाना है। योग पूरा होगा तो बुद्धि रूपी बर्तन पवित्र होगा तो धारणा भी होगी। बाप को याद करने से तुम वर्सा लेते हो। तुम्हारी ऑख वर्से में चली जाती है। लौकिक बाप के बच्चों की भी वर्से में नज़र रहती है ना। कोई-कोई बच्चे कहते हैं यह बूढ़ा कब मरेगा तो हमको मिलकियत मिलेगी। कोई-कोई बाप ऐसे मनहूस होते हैं जो बच्चों को कुछ देते ही नहीं। स्त्री को घर खर्च भी नहीं देते।

बाप कहते हैं कि मूल बात है निश्चयबुद्धि बनो। तुमने विचित्र का हाथ पकड़ लिया है। इस चित्र द्वारा कहते हैं – मुझे याद करो। तुम्हारी जिन्न जैसी बुद्धि होनी चाहिए। शिवबाबा परमधाम में रहते हैं। अभी शिवबाबा मधुबन में मुरली चलाते होंगे। घड़ी-घड़ी शिवबाबा को याद करना पड़े। अभी तुम यहाँ बैठे हो, वही कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम मेरी माला का दाना बन जायेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। इसमें ब्राह्मण भी जरूर चाहिए। शास्त्रों में कोई यह लिखा हुआ नहीं है कि जगत अम्बा ब्राह्मणी थी। यह बाप ही समझाते हैं। परन्तु माया भी बड़ी तीखी है। निश्चय होते-होते माया फिर झट संशय में ला देती है। फिर श्रीमत लेने लिए बुद्धि चलती नहीं है। उनका पद भी भ्रष्ट हो जाता है। चढ़े तो चाखे बैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर.. प्रजा में भी कम पद। तुम हो लकी ज्ञान सितारे। तुम्हारे ऊपर बहुत रेस्पॉन्सिबिलिटी है। बाबा कहते हैं – खबरदार रहना, विकार में नहीं जाना। तुम्हारा धन्धा है पतित को पावन बनाने का। कोई को भी दु:ख मत दो। सदा सुखी बनाना है। बाप बच्चे-बच्चे कहकर समझाते हैं फिर भी बुजुर्ग है। इनकी आत्मा को भी बच्चा कहेंगे। यह आत्मा भी उनको बाप कहती है। कदम-कदम श्रीमत पर चलना है। सेन्टर्स सब शिवबाबा के हैं, किसी मनुष्य के नहीं। शिवबाबा ही इन द्वारा स्थापना कर रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि को रोज ज्ञान का भोजन दे, शक्तिशाली बनाना है। योग से बुद्धि रूपी बर्तन पवित्र बनाना है।

2) “हमने विचित्र बाप का हाथ पकड़ा है” – इस निश्चय से घड़ी-घड़ी बाप को याद करना है। कोई को भी दु:ख नहीं देना है।

वरदान:- अपने अनादि संस्कारों को इमर्ज कर सर्व समस्याओं को पार करने वाले उड़ता पंछी भव
आप सब अनादि रूप में हो ही उड़ने वाले, लेकिन बोझ के कारण उड़ता पंछी के बजाए पिंजड़े के पंछी बन गये हो। अब फिर से अनादि संस्कार इमर्ज करो अर्थात् फरिश्ते रूप में स्थित रहो, इसी को ही सहज पुरुषार्थ कहा जाता है। उड़ता पंछी बनेंगे तो परिस्थितियां नीचे और आप ऊपर हो जायेंगे। यही सर्व समस्याओं का समाधान है।
स्लोगन:- हर कदम में कल्याण समझ हर आत्मा को शान्ति की शक्ति का दान देना ही सच्ची सेवा है।
Font Resize