daily murli 7 november

TODAY MURLI 7 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 November 2020

07/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give everyone the good news that the deity dynasty is being established. When the world becomes viceless, everything else will be destroyed.
Question: When does Ravan curse you and what is the sign of being cursed?
Answer: You receive Ravan’s curse when you become body conscious. Souls who are cursed become poverty-stricken and vicious; they continue to come down. Now, in order to claim your inheritance from the Father, become soul conscious. Make your vision and attitude pure.

Om shanti. The spiritual Father sits here and tells you spiritual children the story of 84 births. You understand that not everyone takes 84 births. You were worthy-of-worship deities at the beginning of the golden age. At first, in Bharat, there was the kingdom of the religion of worthy-of-worship deities. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Therefore, there must surely have been a dynasty. There would also have been friends and relatives of the royal clan. There would have been subjects too. This is like a story. You remember that it became their kingdom 5000 years ago. It was the kingdom of deities of the original deity religion in Bharat. The unlimited Father, who is knowledge-full, sits here and explains this. Knowledge of which aspect? People believe that He knows what is inside everyone, that He knows everyone’s actions and sinful actions. However, the Father now explains: Each soul has received his own part. All souls reside in the supreme abode. The whole of their parts are recorded in them. They sit there ready to go and play their parts on the field of action. You understand that it is the soul that does everything. It is the soul that says that something is sour or that something is salty. It is souls that understand they are now vicious sinners, that they have devilish natures. It is souls that adopt bodies and play their entire parts here on the field of action. Therefore, you should have the faith: I, a soul, am doing everything. We have now met the Father and we will meet Him again after 5000 years. You understand that souls were worthy of worship and then become worshippers, that they were pure and then impure. When they are worthy of worship, there cannot be any impure beings. When they are worshippers, there cannot be any pure beings. In the golden age they are pure and worthy of worship. When the kingdom of Ravan begins in the copper age, all become impure worshippers. Shiv Baba says: Look, Shankaracharya is also My worshipper; he worships Me. Some have an image of Shiva made of diamonds, some of gold and others of silver. Worshippers who worship now cannot be called worthy of worship. There cannot be a single worthy-of-worship person in the whole world at this time. Those who are worthy of worship are pure and then they become impure. Pure ones exist in the new world. Only those who are pure are worshipped. It is just as when a girl is pure she is worshipped, but when she becomes impure she has to bow down to everyone. There is so much paraphernalia in worshipping! Whenever you inaugurate a museum or an exhibition you must definitely write, “Trimurti Shiva”. Beneath that, there is the aim and objective: Lakshmi and Narayan. We are establishing the religion of worthy-of-worship deities. There are no other religions there. You can explain this. You are not able to give lectures etc. at exhibitions. Other arrangements have to be made to explain to them. The main thing is this: We are giving good news to the people of Bharat. We are establishing this kingdom. This deity dynasty used to exist; it doesn’t exist any more. However, it is now being established again and everything will then be destroyed. When there was the one religion in the golden age, none of the innumerable religions existed. It is not possible for all the many religions to become united and become one. They come one after another and continue to grow. The first and original, eternal, deity religion has disappeared. No one can call himself someone of the original, eternal, deity religion. This world is called the vicious world. You can tell them: We are giving you the good news that Shiv Baba is establishing the viceless world. We are the children of Prajapita Brahma, Brahma Kumars and Kumaris. First of all, we are brothers. Then, when creation takes place, we become brothers and sisters. All of you say: Baba, we have become Your children. Therefore, brothers and sisters mustn’t have criminal vision. Become pure in this last birth because only then will you become the masters of the pure world. You know that only the one Father is the Bestower of Liberation and Salvation. The old world will definitely change; the new one will be established. Only God can do that. You children now understand how He creates the new world. The old world also exists; it hasn’t finished. Establishment through Brahma has also been shown in the pictures. This is the last of his many births. Brahma doesn’t have a partner; there is the adoption of Brahma. You need to explain with great tact. Shiv Baba enters Brahma and makes us belong to Him. It is only when He enters a body that He can say: O soul, you are My child. Souls exist anyway and then, when the world is being created through Brahma, there are definitely Brahma Kumars and Kumaris. Therefore, they are brothers and sisters. Any other type of vision finishes. We are receiving our inheritance of purity from Shiv Baba. We receive a curse from Ravan. When we become soul conscious, we receive our inheritance from the Father. When we become body conscious, we receive a curse from Ravan. By being cursed, we continue to come down. Bharat is now cursed. Who made Bharat so poverty-stricken and vicious? It must have been cursed by someone. This was the curse of Maya, Ravan. People burn an effigy of Ravan every year and so he must surely be an enemy. “Religion is might”. We are now becoming those of the deity religion. Baba is the instrument to establish the new religion. He establishes such a powerful religion. We receive strength from Baba and gain victory over the whole world. We receive strength on the pilgrimage of remembrance and our sins are absolved. So, also write about this temptation: We are giving you good news. This religion is being established. It is called heaven. Write this in big letters. Baba advises you: Of all the religions, this is the main one. The original, eternal, deity religion is being established. Prajapita Brahma is also sitting here. We Prajapita Brahma Kumars and Kumaris are carrying out this task by following shrimat. These are not the directions of Brahma. Shrimat is that of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, who is the Father of all. Only the Father establishes the one religion and destroys all other religions. By studying Raj Yoga you become this. We are also becoming this. We have unlimited renunciation because we know that this old world is going to be burnt. When a physical father has a new home built, his attachment to the old one ends. The Father says: This old world is to be destroyed. He is now establishing the new world for you. You are studying for the new world. It is only at the confluence age that there is the destruction of the innumerable religions and the establishment of the one religion. There will be war and also natural calamities. When it was their kingdom in the golden age, there were no other religions. Where was everyone else? You have to keep this knowledge in your intellects. It isn’t that I don’t do any other work when I keep this knowledge in my intellect. I have so many other thoughts. I have to read and write letters, take care of the buildings, etc., but I still continue to remember the Father. How would I be absolved of my sins if I didn’t remember Baba? You children have now received knowledge. You are becoming worthy of worship for half the cycle. For half the cycle, you are tamopradhan worshippers, and for half the cycle you are satopradhan and worthy of worship. Souls become divine by having yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. By having remembrance, souls go from the iron age to the golden age. Only the One is called the Purifier. As you make further progress, your sound will spread. This knowledge is for those of all religions. Tell them that the Father says: I alone am the Purifier. Remember Me and you will become pure. Then, you will settle all your accounts and return home. If you become confused, you can ask. There are very few people in the golden age. Now, there are innumerable religions. They will definitely settle their accounts and then become like they used to be. Why should you go into the detail? You know that each soul will play his own part. They all now have to return home, because none of them exist in the golden age. The Father comes to establish the one religion and destroy the innumerable religions. The new world is now being established. Then the golden age will definitely come and the cycle will definitely turn. There shouldn’t be too much thinking about this. The main thing is that you have to become satopradhan and claim a high status. Kumaris should become busy in this. Parents don’t eat from the daughter’s income. However, nowadays, they have become greedy for everything, and so even daughters have to go to earn money. You now understand that you have to become pure and become the masters of the pure world. We are Raj Yogis and we definitely have to claim our inheritance from the Father. You now belong to the Pandava Army. Along with serving yourselves, you must think about going to show everyone the path. The more service you do, the more elevated the status you will claim. If you asked Baba what status you would receive if you were to die in that condition, Baba could instantly tell you. Because you are not doing service, you would take birth in an ordinary home. It would then be difficult for you to take knowledge, because a small child isn’t able to take much knowledge. For instance, if only two or three years remain, how much would you be able to study? Baba would tell you that you will take birth in the warrior clan. Perhaps you would receive a double crown at the end. You would not be able to experience the full happiness of heaven. Those who serve fully and study will attain the full happiness of heaven, numberwise, according to their efforts. You should be concerned that if you don’t become this now, you won’t become this every cycle. Each of you can know for yourself how many marks you will pass with. Everyone will come to know it, and then it can only be said to be destiny! You will feel sorrow inside you. What happened to me while just sitting here? People even die while just sitting somewhere. This is why the Father says: Don’t become lazy! Make effort and continue to become pure from impure. Continue to show others the path. Have mercy for your friends and relatives. Even if you can see that someone is unable to stay without vice and continues to eat impure food, you should continue to explain to him. If he doesn’t understand, you must realize that he doesn’t belong to your clan. Make effort to benefit your parents’ home and your in-laws’ home. Don’t behave in such a way that others say you’re not talking to them or that you’ve turned away from them. No, you have to stay in contact with everyone. You have to benefit everyone. You have to become very merciful. We are going into happiness. Therefore, we have to show others this path. You are sticks for the blind. People sing: You are a stick for the blind! Everyone has eyes, and yet they call out because they don’t have the third eye of knowledge. Only the one Father shows you the path to peace and happiness. This is now in the intellects of you children. Previously, you didn’t understand this. People chant so many mantras on the path of devotion. They chant the name of Rama and feed fish, ants etc. Now, you don’t need to do anything like that on the path of knowledge. So many birds die. So many die in just one storm. Natural calamities will come with great force. Rehearsals will continue to take place. Everything is to be destroyed. You are aware inside that you are to go to heaven. There, you will have your first-class palaces built, just as you had them built in the previous cycle. The same palaces that were built in the previous cycle will be built again. It will enter your intellects at that time. Why should you think about that now? Instead, just stay in remembrance of the Father. Don’t forget the pilgrimage of remembrance. Palaces will be built as they were in the previous cycle. You have to fulfil the responsibility of staying on the pilgrimage of remembrance. You should remain very happy: We have found the Father, Teacher and Satguru. You should have goose pimples of happiness! You know that you have come here in order to become the masters of the land of immortality. You should have this happiness all the time. Only when you have it here all the time will it remain with you there for 21 births. When you continue to remind many others, your remembrance will also increase. You will then develop that habit. You know that this impure world is to catch fire. Only you Brahmins have the concern of the whole world being destroyed. In the golden age, you will not know any of this. It is now the end and you are making effort for remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t become lazy about making effort to become pure from impure. Have mercy for your friends and relatives and explain to them. Don’t just leave them.
  2. Don’t behave in such a way that others say you have turned away from them. Become merciful and benefit everyone. Remove all other thoughts and stay in remembrance of the one Father.
Blessing: May you be a world transformer and make anything wrong right with the power to merge.
Do not make any mistakes yourself when you see the mistakes of others. Even if someone else has made a mistake, you must remain right. Do not be influenced by their “wrongact. Those who are influenced become careless. Each one must simply take the responsibility to remain constantly on the right path. Even if someone does something wrong, at that time, use the power to merge. Instead of noting down the mistake of others, give them a note of co-operation, that is, fill them with your co-operation and the task of world transformation will easily be accomplished.
Slogan: In order to be a constant yogi, transform any limited “I” or “mine” into unlimited.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सबको यह खुशखबरी सुनाओ कि अब डीटी डिनायस्टी स्थापन हो रही है, जब वाइसलेस वर्ल्ड होगी तब बाकी सब विनाश हो जायेंगे”
प्रश्नः- रावण का श्राप कब मिलता है, श्रापित होने की निशानी क्या है?
उत्तर:- जब तुम देह-अभिमानी बनते हो तब रावण का श्राप मिल जाता है। श्रापित आत्मायें कंगाल विकारी बनती जाती हैं, नीचे उतरती जाती हैं। अब बाप से वर्सा लेने के लिए देही-अभिमानी बनना है। अपनी दृष्टि-वृत्ति को पावन बनाना है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को 84 जन्मों की कहानी सुनाते हैं। यह तो समझते हो सभी तो 84 जन्म नहीं लेते होंगे। तुम ही पहले-पहले सतयुग आदि में पूज्य देवी-देवता थे। भारत में पहले पूज्य देवी-देवता धर्म का ही राज्य था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो जरूर डिनायस्टी होगी। राजाई घराने के मित्र-सम्बन्धी भी होंगे। प्रजा भी होगी। यह जैसे एक कहानी है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी इनका राज्य था – यह स्मृति में लाते हैं। भारत में आदि सनातन देवी-देवता धर्म का राज्य था। यह बेहद का बाप बैठ समझाते हैं, जिसको ही नॉलेजफुल कहा जाता है। नॉलेज किस चीज़ की? मनुष्य समझते हैं वह सबके अन्दर को, कर्म विकर्म को जानने वाला है। परन्तु अभी बाप समझाते हैं – हर एक आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। सभी आत्मायें अपने परमधाम में रहती हैं। उनमें सारा पार्ट भरा हुआ है। रेडी बैठे हैं कि जाकर कर्मक्षेत्र पर अपना पार्ट बजायें। यह भी तुम समझते हो हम आत्मायें सब कुछ करती हैं। आत्मा ही कहती है यह खट्टा है, यह नमकीन है। आत्मा ही समझती है – हम अभी विकारी पाप आत्मायें हैं। आसुरी स्वभाव है। आत्मा ही यहाँ कर्मक्षेत्र पर शरीर लेकर सारा पार्ट बजाती है। तो यह निश्चय करना चाहिए ना! हम आत्मा ही सब कुछ करती हूँ। अभी बाप से मिले हैं फिर 5 हज़ार वर्ष बाद मिलेंगे। यह भी समझते हो पूज्य और पुजारी, पावन और पतित बनते आये हैं। जब पूज्य हैं तो पतित कोई हो न सके। जब पुजारी हैं तो पावन कोई हो न सके। सतयुग में है ही पावन पूज्य। जब द्वापर से रावण राज्य शुरू होता है तब सभी पतित पुजारी बनते हैं। शिवबाबा कहते हैं देखो शंकराचार्य भी मेरा पुजारी है। मेरे को पूजते हैं ना। शिव का चित्र कोई के पास हीरे का, कोई के पास सोने का, कोई के पास चांदी का होता है। अब जो पूजा करते हैं, उस पुजारी को पूज्य तो कह नहीं सकते। सारी दुनिया में इस समय पूज्य एक भी हो नहीं सकता। पूज्य पवित्र होते हैं फिर अपवित्र बनते हैं। पवित्र होते हैं नई दुनिया में। पवित्र ही पूजे जाते हैं। जैसे कुमारी जब पवित्र है तो पूजने लायक है, अपवित्र बनती है तो फिर सबके आगे सिर झुकाना पड़ता है। पूजा की कितनी सामग्री है। कहाँ भी प्रदर्शनी, म्युजियम आदि खोलते हो तो ऊपर में त्रिमूर्ति शिव जरूर चाहिए। नीचे में यह लक्ष्मी-नारायण एम ऑब्जेक्ट। हम यह पूज्य देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। वहाँ फिर कोई और धर्म नहीं रहता। तुम समझा सकते हो, प्रदर्शनी में तो भाषण आदि कर नहीं सकेंगे। समझाने के लिए फिर अलग प्रबन्ध होना चाहिए। मुख्य बात ही यह है – हम भारतवासियों को खुशखबरी सुनाते हैं। हम यह राज्य स्थापन कर रहे हैं। यह डीटी डिनायस्टी थी, अब नहीं है फिर से इनकी स्थापना होती है और सब विनाश हो जायेंगे। सतयुग में जब यह एक धर्म था तो अनेक धर्म थे नहीं। अब यह अनेक धर्म मिलकर एक हो जाएं, वह तो हो न सके। वह आते ही एक-दो के पिछाड़ी हैं और वृद्धि को पाते रहते हैं। पहला आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय:लोप है। कोई भी नहीं जो अपने को देवी-देवता धर्म का कहला सके। इनको कहा ही जाता है विशश वर्ल्ड। तुम कह सकते हो हम आपको खुशखबरी सुनाते हैं – शिवबाबा वाइसलेस वर्ल्ड स्थापन कर रहे हैं। हम प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं ना। पहले-पहले तो हम भाई-भाई हैं फिर रचना होती है तो जरूर भाई-बहिन होंगे। सब कहते हैं बाबा हम आपके बच्चे हैं तो भाई-बहिन की क्रिमिनल आई जा न सके। यह अन्तिम जन्म पवित्र बनना है, तब ही पवित्र विश्व के मालिक बन सकेंगे। तुम जानते हो गति-सद्गति दाता है ही एक बाप। पुरानी दुनिया बदलकर जरूर नई दुनिया स्थापन होनी है। वो तो भगवान ही करेंगे। अब वह नई दुनिया कैसे क्रियेट करते हैं, यह तुम बच्चे ही जानते हो। अभी पुरानी दुनिया भी है, यह कोई खलास नहीं हुई है। चित्रों में भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। इनका यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। ब्रह्मा की जोड़ी नहीं, ब्रह्मा की तो एडाप्शन है। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। शिवबाबा ब्रह्मा में प्रवेश कर हमको अपना बनाते हैं। शरीर में प्रवेश करे तब तो कहे-हे आत्मा, तुम हमारे बच्चे हो। आत्मायें तो हैं ही फिर ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रची जायेगी तो जरूर ब्रह्माकुमार-कुमारियां होंगे ना, तो बहन-भाई हो गये। दूसरी दृष्टि निकल जाती है। हम शिवबाबा से पावन बनने का वर्सा लेते हैं। रावण से हमको श्राप मिलता है। अभी हम देही-अभिमानी बनते हैं तो बाप से वर्सा मिलता है। देह-अभिमानी बनने से रावण का श्राप मिलता है। श्राप मिलने से नीचे उतरते जाते हैं। अभी भारत श्रापित है ना। भारत को इतना कंगाल विकारी किसने बनाया? कोई का तो श्राप है ना। यह है रावण रूपी माया का श्राप। हर वर्ष रावण को जलाते हैं तो जरूर दुश्मन है ना। धर्म में ही ताकत होती है। अभी हम देवता धर्म के बनते हैं। बाबा नये धर्म की स्थापना करने निमित्त है। कितनी ताकत वाला धर्म स्थापन करते हैं। हम बाबा से ताकत लेते हैं, सारे विश्व पर विजय पाते हैं। याद की यात्रा से ही ताकत मिलती है और विकर्म विनाश होते हैं। तो यह भी एक भीती लिख देनी चाहिए। हम खुशखबरी सुनाते हैं। अब इस धर्म की स्थापना हो रही है जिसको ही हेविन, स्वर्ग कहते हैं। ऐसे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख दो। बाबा राय देते हैं – सबसे मुख्य है यह। अब आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। प्रजापिता ब्रह्मा भी बैठा है। हम प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां श्रीमत पर यह कार्य कर रहे हैं। ब्रह्मा की मत नहीं, श्रीमत है ही परमपिता परमात्मा शिव की, जो सबका बाप है। बाप ही एक धर्म की स्थापना, अनेक धर्मों का विनाश करते हैं। राजयोग सीख यह बनते हैं। हम भी यह बन रहे हैं। हमने बेहद का सन्यास किया है क्योंकि जानते हैं – ये पुरानी दुनिया भस्म हो जानी है। जैसे हद का बाप नया घर बनाते हैं फिर पुराने से ममत्व मिट जाता है। बाप कहते हैं यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है। अब तुम्हारे लिए नई दुनिया स्थापन कर रहे हैं। तुम पढ़ते ही हो – नई दुनिया के लिए। अनेक धर्मों का विनाश, एक धर्म की स्थापना संगम पर ही होती है। लड़ाई लगेगी, नेचुरल कैलेमिटीज़ भी आयेंगी। सतयुग में जब इनका राज्य था तो और कोई धर्म थे नहीं। बाकी सब कहाँ थे? यह नॉलेज बुद्धि में रखनी है। ऐसे नहीं यह नॉलेज बुद्धि में रखते दूसरा काम नहीं करते हैं, कितने ख्यालात रखते हैं। चिट्ठियाँ लिखना, पढ़ना, मकान का ख्याल करना, तो भी बाप को याद करता रहता हूँ। बाबा को याद न करें तो विकर्म कैसे विनाश होंगे।

अभी तुम बच्चों को ज्ञान मिला है, तुम आधाकल्प के लिए पूज्य बन रहे हो। आधाकल्प हैं पुजारी तमोप्रधान फिर आधाकल्प पूज्य सतोप्रधान होते हैं। आत्मा परमपिता परमात्मा से योग लगाने से ही पारस बनती है। याद करते-करते आइरन एज से गोल्डन एज में चली जायेगी। पतित-पावन एक को ही कहा जाता है। आगे चल तुम्हारा आवाज़ निकलेगा। यह तो सब धर्मों के लिए है। तुम कहते भी हो बाप कहते हैं कि पतित-पावन मैं ही हूँ। मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। बाकी सब हिसाब-किताब चुक्तू कर जायेंगे। कहाँ भी मूँझते हो तो पूछ सकते हो। सतयुग में होते ही थोड़े हैं। अभी तो अनेक धर्म हैं। जरूर हिसाब किताब चुक्तू कर फिर ऐसे बनेंगे, जैसे थे। डीटेल में क्यों जायें। जानते हैं हर एक अपना-अपना पार्ट आकर बजायेंगे। अभी सबको वापिस जाना है क्योंकि यह सब सतयुग में थे ही नहीं। बाप आते ही हैं एक धर्म की स्थापना, अनेक धर्मों का विनाश करने। अब नई दुनिया की स्थापना हो रही है। फिर सतयुग जरूर आयेगा, चक्र जरूर फिरेगा। टू मच ख्यालात में न जाए, मूल बात हम सतोप्रधान बनेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। कुमारियों को तो इसमें लग जाना है, कुमारी की कमाई माँ-बाप नहीं खाते हैं। परन्तु आजकल भूखे हो गये हैं तो कुमारियों को भी कमाना पड़ता है। तुम समझते हो अब पवित्र बन पवित्र दुनिया का मालिक बनना है। हम राजयोगी हैं, बाप से वर्सा जरूर लेना है।

अभी तुम पाण्डव सेना के बने हो। अपनी सर्विस करते हुए भी यह ख्याल रखना है, हम जाकर सबको रास्ता बतायें। जितना करेंगे, उतना ऊंच पद पायेंगे। बाबा से पूछ सकते हैं – इस हालत में मर जायें तो हमको क्या पद मिलेगा? बाबा झट बता देंगे। सर्विस नहीं करते हो इसलिए साधारण घर में जाकर जन्म लेंगे फिर आकर ज्ञान लेवें सो तो मुश्किल है क्योंकि छोटा बच्चा इतना ज्ञान तो उठा नहीं सकता। समझो बाकी 2-3 वर्ष रहते हैं तो क्या पढ़ सकेंगे? बाबा बता देंगे तुम कोई क्षत्रिय कुल में जाकर जन्म लेंगे। पिछाड़ी में करके डबल ताज मिलेगा। स्वर्ग का फुल सुख पा नहीं सकेंगे। जो फुल सर्विस करेंगे, पढ़ेंगे वही फुल सुख पायेंगे। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। यही फुरना रखना है – अभी नहीं बनेंगे तो कल्प-कल्प नहीं बनेंगे। हर एक अपने को जान सकते हैं, हम कितने मार्क्स से पास होंगे। सब जान जाते हैं फिर कहा जाता है भावी। अन्दर में दु:ख होगा ना। बैठे-बैठे हमको क्या हो गया! बैठे-बैठे मनुष्य मर भी जाते हैं इसलिए बाप कहते हैं सुस्ती मत करो। पुरूषार्थ कर पतित से पावन बनते रहो, रास्ता बताते रहो। कोई भी मित्र-सम्बन्धी आदि हैं, उन पर तरस पड़ना चाहिए। देखते हैं यह विकार बिगर, गंद खाने बिगर रह नहीं सकते हैं, फिर भी समझाते रहना चाहिए। नहीं मानते तो समझो हमारे कुल का नहीं है। कोशिश कर पियरघर, ससुरघर का कल्याण करना है। ऐसी भी चलन न हो जो कहें यह तो हमसे बात भी नहीं करते, मुख मोड़ दिया है। नहीं, सबसे जोड़ना है। हम उनका भी कल्याण करें। बहुत रहमदिल बनना है। हम सुख तरफ जाते हैं तो औरों को भी रास्ता बतायें। अन्धों की लाठी तुम हो ना। गाते हैं अन्धों की लाठी तू। आंखे तो सबको हैं फिर भी बुलाते हैं क्योंकि ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है। शान्ति-सुख का रास्ता बताने वाला एक ही बाप है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में अभी है। आगे थोड़ेही समझते थे। भक्ति मार्ग में कितने मंत्र जपते हैं। राम-राम कह मछली को खिलाते, चीटियों को खिलाते। अब ज्ञान मार्ग में तो कुछ भी करने की दरकार नहीं है। पक्षी तो ढेर के ढेर मर जाते हैं। एक ही तूफान लगता है, कितने मर जाते हैं। नेचुरल कैलेमिटीज़ तो अब बहुत जोर से आयेगी। यह रिहर्सल होती रहेगी। यह सब विनाश तो होना ही है। अन्दर में आता है अब हम स्वर्ग में जायेंगे। वहाँ अपने फर्स्टक्लास महल बनायेंगे। जैसे कल्प पहले बनाये हैं। बनायेंगे फिर भी वही जो कल्प पहले बनाया होगा। उस समय वह बुद्धि आ जायेगी। उसका ख्याल अब क्यों करें, इससे तो बाप की याद में रहें। याद की यात्रा को नहीं भूलो। महल तो बनेंगे ही कल्प पहले मिसल। परन्तु अभी याद की यात्रा में तोड़ निभाना है और बहुत खुशी में रहना है कि हमको बाप, टीचर, सतगुरू मिला है। इस खुशी में तो रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। तुम जानते हो हम आये ही हैं अमरपुरी का मालिक बनने। यह खुशी स्थाई रहनी चाहिए। यहाँ रहेगी तब फिर 21 जन्म वह स्थाई हो जायेगी। बहुतों को याद कराते रहेंगे तो अपनी भी याद बढ़ेगी। फिर आदत पड़ जायेगी। जानते हैं इस अपवित्र दुनिया को आग लगनी है। तुम ब्राह्मण ही हो जिनको यह ख्याल है – इतनी सारी दुनिया खत्म हो जायेगी। सतयुग में यह कुछ भी मालूम नहीं पड़ेगा। अभी अन्त है, तुम याद के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पतित से पावन बनने के पुरूषार्थ में सुस्ती नहीं करनी है। कोई भी मित्र सम्बन्धी आदि हैं उन पर तरस रख समझाना है, छोड़ नहीं देना है।

2) ऐसी चलन नहीं रखनी है जो कोई कहे कि इन्होंने तो मुँह मोड़ लिया है। रहमदिल बन सबका कल्याण करना है और सब ख्यालात छोड़ एक बाप की याद में रहना है।

वरदान:- समाने की शक्ति द्वारा रांग को भी राइट बनाने वाले विश्व परिवर्तक भव
दूसरे की गलती को देखकर स्वयं गलती नहीं करो। अगर कोई गलती करता है तो हम राइट में रहें, उसके संग के प्रभाव में न आयें, जो प्रभाव में आ जाते हैं वह अलबेले हो जाते हैं। हर एक सिर्फ यह जिम्मेवारी उठा लो कि मैं राइट के मार्ग पर ही रहूंगा, अगर दूसरा रांग करता है तो उस समय समाने की शक्ति यूज़ करो। किसी की गलती को नोट करने के बजाए उसको सहयोग का नोट दो अर्थात सहयोग से भरपूर कर दो तो विश्व परिवर्तन का कार्य सहज ही हो जायेगा।
स्लोगन:- निरन्तर योगी बनना है तो हद के मैं और मेरेपन को बेहद में परिवर्तन करो।

TODAY MURLI 7 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 November 2019

07/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to teach you spiritual art. Through this art you go beyond the sun and the moon to the land of peace.
Question: What is the difference between those who are proud of their science and those who are proud of their silence?
Answer: Those who are proud of their science spend so much money on going to the moon and stars. They risk their bodies and are afraid that their rocket may fail. You children, who are proud of your silence, go beyond the moon and the stars into the supreme region without spending a penny. You have no fear because you leave your bodies here and go.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Children keep hearing about scientists who continue to make effort to go to the moon. Those people spend so much money on just trying to go to the moon, yet they have a lot of fear in going there. Now think about yourselves. What is your place of residence? They go to the moon, but you go beyond even the sun and the moon, right to the supreme region. When those people go up there, they are rewarded with plenty of money. After they have returned from their journey and they land, they receive hundreds of thousands of gifts. They risk their bodies when they go up. They are proud of their science; you are proud of your silence. You souls know that you are to return to your land of peace, the brahm element. It is souls that do everything. Those souls go up with their bodies too. It is very dangerous. They are afraid of falling from above and dying. All of that is physical art. The Father is teaching you spiritual art. By studying this art, you receive a huge prize. It is a prize that lasts for 21 births, numberwise, according to the effort you make. Nowadays, the Government holds a lottery. This Father gives you a prize and what does He teach you? He takes you to the absolute top, to your home. You now remember where your home is and where the kingdom that you lost is. Ravan snatched it away from you. Now, once again, you are to go to your original home and you will also claim your kingdom. No one knows that the land of liberation is your home. Now, look where the Father comes from in order to teach His children! He comes from so far away! Souls too are rockets. Those people try to go up and see what there is on the moon and the stars. You children understand that the moon and the stars are lights for this stage, just as they have lights on a physical stage here. You also have rope (fairy) lighting in the museums. This then is the unlimited world for which the sun, moon and stars provide light. People believe that the sun and the moon are deities, but they are not deities. You now understand how the Father comes and changes you from humans into deities. There are the Sun of Knowledge, the moon of knowledge and the lucky stars of knowledge. You children receive salvation through this knowledge. You go so far away! The Father has shown you the way to return home. Without the Father, no one can go back home. You understand this when the Father comes and teaches you. You souls also understand that it is only when you become pure you will be able to return home. You have to become pure either with the power of yoga or with the power of punishment. The Father continues to tell you that the more you remember Him, the purer you will become. By not remembering Him, you remain impure and there will have to be a lot of punishment experienced, and any status you had will be destroyed. The Father Himself sits here and explains how you can return home. You did not know what the brahm element is or what the subtle region is. Students do not know anything at first, but they start to understand when they begin to study. Some knowledge is of a lower level and some knowledge is of a very high level. When you have taken the I.C.S. examination, it is said that you are knowledge-full. There is no knowledge higher than this. You are now studying such elevated knowledge! The Father shows you the way to become pure: Children, if you remember Me alone, you change from impure to pure. Originally, you souls were pure and used to reside up above in your home. When you were in the golden age, in a life of liberation, all others were in the land of liberation. You could call the land of liberation and the land of liberation-in-life, the Temple of Shiva (Shivalaya). Shiv Baba resides in the land of liberation and you children, you souls, also reside there. This is the highest spiritual knowledge. Those people say that they want to go and live on the moon. They try so hard. They show their courage. They go so many multimillions of miles up! However, their desires are not fulfilled whereas your desires are fulfilled. They have false physical pride. You have spiritual pride. They show so much courage for the things of Maya. They are applauded and congratulated so much. They receive a lot of money; it might be something like five to ten million rupees. You children have the knowledge that all the money they receive is going to be destroyed. Only a few days remain. What is there today and what will there be tomorrow? Today, you are the residents of hell and tomorrow, you will become the residents of heaven. This doesn’t take a lot of time. Theirs is physical power whereas yours is spiritual power which only you know about. How far can they go with physical power? They may reach the moon and the stars, but the war will then begin and they will all die. Their art will end there. That is the highest physical art. Yours is the highest spiritual art. You go to the land of peace which is also called the sweet home. Those people go so high above. Calculate how many miles up you go. What are you? Souls! The Father asks: Can you calculate how many miles away I live? They can calculate and say how many miles they went before they returned. They are very cautious and think about the way they will go and the way they will return. They create a lot of noise. What noise do you make? No one knows where you go and how you return. Only you know the prize you receive. It is wonderful! It is Baba’s wonder! No one knows about this. You might say that this is not a new thing; every 5000 years you will continue to practise this. You very clearly understand the beginning, the middle and the end of the duration of this world drama. So you should be proud of what Baba is teaching you. You are making very elevated effort and you will make this again. No one else knows these things. The Father is incognito. He explains so much to you every day. He gives you so much knowledge. Those people only go to a limited place, whereas you go to the unlimited. They go to the moon, but that is just a large light, nothing else. The earth from there is seen to be very tiny. There is so much difference between their worldly knowledge and your knowledge. You souls are very tiny, but you are very fast rockets. Souls reside up above and then they come down here to play their parts. That One is the Supreme Soul, but how can He be worshipped? Devotion definitely has to take place. Baba has explained that for half a cycle there is knowledge, the day, and for the other half there is devotion, the night. You are now receiving knowledge at the confluence age. There is none of this knowledge in the golden age, which is why this age is called the most auspicious confluence age. Baba makes all of you most elevated. You souls go so far away! You have the happiness of this. They show their art so that they can receive a lot of money. No matter how much they receive, you understand that they won’t be able to take any of it with them. Everyone is about to die because everything is about to be destroyed. You now receive so many valuable jewels that you cannot calculate their value; each version is worth hundreds of thousands of rupees. You have been listening to them for so long. There is very valuable knowledge in the Gita. This is the only Gita which is called the most valuable Gita. The Gita containing the elevated directions of God is the jewel of all the scriptures. Those people continue to study the Gita but they do not understand the meaning of it and what will happen by studying the Gita. The Father says: Now remember Me and you will become pure. Although they study the Gita, not a single one of them has yoga with the Father; they call the Father omnipresent. They cannot become pure. The picture of Lakshmi and Narayan is now in front of you. They are called deities because they have divine virtues. You souls have to become pure and you then all have to return home. There aren’t so many human beings in the new world. All the other souls will have to return home. The Father is giving you the most wonderful knowledge through which you become very elevated and change from humans into deities. Therefore, you should pay a lot of attention to such a study. It is also understood that whatever attention you paid a cycle ago, you will pay the same attention now; this can be understood. The Father is pleased to hear your news of service. If you never write to the Father, it is understood that your intellects’ yoga has been drawn towards the pebbles and stones, that you souls have become body conscious and forgotten the Father. Otherwise, just think about when there is a love marriage, they have so much love for one another. However, later on, some change their minds and even kill their wife. Your love marriage is with that One. The Father comes and gives you His introduction. You don’t receive His introduction automatically; the Father has to come. The Father comes when the world has become old. He definitely only comes at the confluence age to make the old world new. The Father’s duty is to establish the new world. He makes you into the masters of heaven, and so there should be so much love for the Father! Why then do you say, “Baba, I forget you”? The Father is so elevated! There is no one higher than He is. People try so hard to attain liberation; they try so many ways. So much lying and deceit goes on. Maharishis etc. are glorified a great deal. The Government then gives them 10 or 20 acres of land. It is not that the Government is irreligious. There are some ministers who are religious and some who are irreligious. Some don’t believe in religion at all. It is said, “Religion is might”. The Christians had so much might that they swallowed the whole of Bharat. There is now no might left in this Bharat. There is so much quarrelling and fighting etc. What was this same Bharat like previously? No one knows how or where the Father comes. No one knows anything. You understand that the Father comes to the most degraded and impure land where there are alligators and crocodiles. People are such that they would eat anything. Bharat was the most Vaishnav (vegetarian). This is the Vaishnav kingdom, is it not? There is a vast difference between those great, pure deities and people now who keep swallowing all sorts of things! There are even cannibals here who eat others. What has the condition of Bharat become? The Father now explains all the secrets to you. Baba gives you all the knowledge from the top to the bottom. You are the first ones who come on this earth and then the population of human beings increases. In a short while, there will be cries of sorrow; they will continue to cry. Look, there is so much happiness in heaven! Look at the symbol of your aim and objective. You children have to imbibe all of this. This is such a great study! The Father explains everything so clearly! He also explains the significance of the rosary. The tassel represents Shiv Baba. Then, because this is the household path, there is the dual-bead. Those on the path of isolation have no right to rotate a rosary. This is the rosary of deities. How did they claim that kingdom? Amongst you also, you are numberwise. Some of you are able to explain to anyone fearlessly. You say: Come, and we will tell you things that no one else can tell you. No one apart from Shiv Baba even knows them. Who taught them Raj Yoga? You have to sit with them and explain in a very sweet way how they take 84 births and how they become deities, warriors, merchants and shudras. The knowledge that the Father gives you is so easy, but you also have to become pure, for only then will you be able to claim a high status. You are the ones who establish peace throughout the whole world. The Father gives you your fortune of that kingdom. He is the Bestower; He doesn’t accept anything. This is the prize of your study. No one else can give you this prize. Therefore, why not remember such a Father with love? You remember your worldly fathers throughout your lives; why do you not remember the parlokik Father? The Father has told you that this is a battlefield. It takes time to become pure; it will take until the time when the war ends. It is not that those who came in the beginning will become completely pure. Baba says that your war with Maya takes place with great force. Maya is so powerful that she even conquers very good children. How can those who fall hear the murli? They do not go to their centre, so how could they find out anything? Maya makes them worth not a penny. If they study the murli, they can remain alert. However, they become busy doing dirty work. A sensible child has to explain to them how they have been defeated by Maya, what Baba tells us and yet, where they are going! When you see that Maya is eating others, you should try to save them so that Maya does not swallow them completely. They have to be made conscious again. Otherwise, because they defame the name of the Satguru, they won’t claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Learn the art of silence from the Father and go beyond this limited world into the unlimited world. By giving us this wonderful knowledge, the Father gives us such a great prize and so there should be the intoxication of that.
  2. You have to do service fearlessly in a very sweet way. Be powerful in your war with Maya and gain victory over her. Listen to the murli and remain alert and inspire others to remain alert.
Blessing: May you become a fortunate soul with the sanskars of self-sovereignty and attain a right to the future kingdom.
The sanskars of ruling yourself over a long period of time will give you a right to the future kingdom over a long period of time. If you are repeatedly influenced and do not have the sanskars of having a right, you will then stay in the kingdom of those who simply rule over themselves, but will not attain the fortune of the kingdom. So, look at the image of your fortune in the mirror of knowledge. By practising this over a long period of time, you can make your special co-operative workers into your companions in the kingdom who work under your control. Become a king and you will then be said to be a fortunate soul.
Slogan: In order to do the service of giving sakaash, let your attitude of unlimited disinterest emerge.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 November 2019

07-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हें रूहानी हुनर सिखलाने, जिस हुनर से तुम सूर्य-चांद से भी पार शान्तिधाम में जाते हो”
प्रश्नः- साइन्स घमण्ड और साइलेन्स घमण्ड में कौन-सा अन्तर है?
उत्तर:- साइन्स घमण्डी चांद सितारों पर जाने के लिए कितना खर्चा करते हैं। शरीर का जोखिम उठाकर जाते हैं। उन्हें यह डर रहता है कि रॉकेट कहाँ फेल न हो जाए। तुम बच्चे साइलेन्स घमण्ड वाले बिगर कौड़ी खर्चा सूर्य-चांद से भी पार मूलवतन में चले जाते हो। तुम्हें कोई डर नहीं क्योंकि तुम शरीर को यहाँ ही छोड़कर जाते हो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। बच्चे सुनते तो रहते हैं कि साइन्सदान चांद पर जाने का प्रयत्न करते रहते हैं। लेकिन वे लोग तो सिर्फ चांद तक जाने की कोशिश करते हैं, कितना खर्चा करते हैं। बहुत डर रहता है ऊपर जाने में। अब तुम अपने ऊपर विचार करो, तुम कहाँ के रहने वाले हो? वह तो चन्द्रमा की तरफ जाते हैं। तुम तो सूर्य-चांद से भी पार जाते हो, एकदम मूलवतन में। वो लोग तो ऊपर जाते हैं तो उनको बहुत पैसे मिलते हैं। ऊपर में चक्र लगाकर आते तो उन्हों को लाखों सौगातें मिलती हैं। शरीर का जोखिम (रिस्क) उठाकर जाते हैं। वह हैं साइन्स घमण्डी। तुम्हारे पास है साइलेन्स का घमण्ड। तुम जानते हो हम आत्मा अपने शान्तिधाम ब्रह्माण्ड में जाते हैं। आत्मा ही सब कुछ करती है। उन्हों की भी आत्मा शरीर के साथ ऊपर में जाती है। बड़ा खौफनाक है। डरते भी हैं, ऊपर से गिरे तो जान खत्म हो जायेगी। वह सब हैं जिस्मानी हुनर। तुमको बाप रूहानी हुनर (कला) सिखलाते हैं। इस हुनर सीखने से तुमको कितनी बड़ी प्राइज़ मिलती है। 21 जन्मों की प्राइज मिलती है, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। आजकल गवर्मेन्ट लॉटरी भी निकालती है ना। यह बाप तुमको प्राइज़ देते हैं। और क्या सिखाते हैं? तुमको बिल्कुल ऊपर ले जाते हैं, जहाँ तुम्हारा घर है। अभी तुमको याद आता है ना कि हमारा घर कहाँ है और राजधानी जो गँवाई है, वह कहाँ है। रावण ने छीन लिया। अब फिर से हम अपने असली घर भी जाते हैं और राजाई भी पाते हैं। मुक्तिधाम हमारा घर है – यह कोई को पता नहीं है। अब तुम बच्चों को सिखलाने के लिए देखो बाप कहाँ से आते हैं, कितना दूर से आते हैं। आत्मा भी रॉकेट है। वह कोशिश करते हैं ऊपर जाकर देखें चन्द्रमा में क्या है, स्टॉर में क्या है? तुम बच्चे जानते हो यह तो इस माण्डवे की बत्तियां हैं। जैसे माण्डवे में बिजलियां लगाते हैं। म्यूज़ियम में भी तुम बत्तियों की लड़ियाँ लगाते हो ना। यह फिर है बेहद की दुनिया। इसमें यह सूर्य, चांद, सितारे रोशनी देने वाले हैं। मनुष्य फिर समझते हैं सूर्य-चन्द्रमा यह देवतायें हैं। परन्तु यह देवता तो हैं नहीं। अभी तुम समझते हो बाप कैसे आकर हमको मनुष्य से देवता बनाते हैं। यह ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा और ज्ञान लकी सितारे हैं। ज्ञान से ही तुम बच्चों की सद्गति हो रही है। तुम कितना दूर जाते हो। बाप ने ही घर जाने का रास्ता बताया है। सिवाए बाप के कोई भी वापिस अपने घर जा नहीं सकते। बाप जब आकर शिक्षा देते हैं, तब तुम जानते हो। यह भी समझते हैं हम आत्मा पवित्र बनेंगे तब ही अपने घर जा सकेंगे। फिर या तो योगबल से या सजाओं के बल से पावन बनना है। बाप तो समझाते रहते हैं जितना बाप को याद करेंगे उतना तुम पावन बनेंगे। याद नहीं करेंगे तो पतित ही रह जायेंगे फिर बहुत सजा खानी पड़ेगी और पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। बाप खुद बैठ तुमको समझाते हैं। तुम ऐसे-ऐसे घर जा सकते हो। ब्रह्माण्ड क्या है, सूक्ष्मवतन क्या है, कुछ भी पता नहीं। स्टूडेन्ट पहले थोड़ेही कुछ जानते हैं, जब पढ़ना शुरू करते हैं तो फिर नॉलेज मिलती है। नॉलेज भी कोई छोटी, कोई बड़ी होती है। आई.सी.एस. का इम्तहान दिया तो फिर कहेंगे नॉलेजफुल। इससे ऊंच नॉलेज कुछ होती नहीं। अब तुम भी कितनी ऊंच नॉलेज सीखते हो। बाप तुमको पवित्र बनने की युक्ति बताते हैं कि बच्चों मामेकम् याद करो तो तुम पतित से पावन बनेंगे। असुल में तुम आत्मायें पावन थी। ऊपर अपने घर में रहने वाली थी, जब तुम सतयुग में जीवनमुक्ति में हो तो बाकी सब मुक्तिधाम में रहते हैं। मुक्ति और जीवनमुक्ति दोनों को हम शिवालय कह सकते हैं। मुक्ति में शिवबाबा भी रहते हैं, हम बच्चे (आत्मायें) भी रहते हैं। यह है रूहानी हाइएस्ट नॉलेज। वह कहते हैं हम चांद के ऊपर जाकर रहेंगे। कितना माथा मारते हैं। बहादुरी दिखाते हैं। इतने मल्टी-मिलियन माइल ऊपर जाते हैं, लेकिन उन्हों की आश पूर्ण नहीं होती है और तुम्हारी आश पूरी हो जाती है। उनका है झूठा जिस्मानी घमण्ड। तुम्हारा है रूहानी घमण्ड। वह माया की बहादुरी कितनी दिखाते हैं। मनुष्य कितनी तालियां बजाते हैं, बधाईयां देते हैं। मिलता भी बहुत है। करके 5-10 करोड़ मिलेंगे। तुम बच्चों को यह ज्ञान है कि उन्हों को यह जो पैसे मिलते हैं, सब खत्म हो जायेंगे। बाकी थोड़े दिन ही समझो। आज क्या है, कल क्या होगा! आज तुम नर्कवासी हो, कल स्वर्गवासी बन जायेंगे। टाइम कोई जास्ती नहीं लगता है, तो उन्हों की है जिस्मानी ताकत और तुम्हारी है रूहानी ताकत। जो सिर्फ तुम ही जानते हो। वह जिस्मानी ताकत से कहाँ तक जायेंगे। चांद, सितारों तक पहुँचेंगे और लड़ाई शुरू हो जायेगी। फिर वह सब खत्म हो जायेंगे। उन्हों का हुनर यहाँ तक ही खत्म हो जायेगा। वह है जिस्मानी हाइएस्ट हुनर, तुम्हारा है रूहानी हाइएस्ट हुनर। तुम शान्तिधाम में जाते हो। उसका नाम ही है स्वीट होम। वो लोग कितने ऊपर जाते हैं और तुम अपना हिसाब करो-तुम कितने माइल्स ऊपर में जाते हो? तुम कौन? आत्मायें। बाप कहते हैं मैं कितने माइल ऊपर में रहता हूँ। गिनती कर सकेंगे! उन्हों के पास तो गिनती है, बतलाते हैं इतने माइल ऊपर में गये फिर लौट आते हैं। बड़ी खबरदारी रखते हैं, ऐसे उतरेंगे यह करेंगे, बहुत आवाज होता है। तुम्हारा क्या आवाज होगा। तुम कहाँ जाते हो फिर कैसे आते हो, कोई पता नहीं। तुमको क्या प्राइज मिलती है, यह भी तुम ही जानो। वन्डरफुल है। बाबा की कमाल है, किसको पता नहीं। तुम तो कहेंगे यह नई बात थोड़ेही है। हर 5 हज़ार वर्ष बाद वह अपनी यह प्रैक्टिस करते रहेंगे। तुम इस सृष्टि रूपी ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त ड्युरेशन आदि को अच्छी रीति जानते हो। तो तुमको अन्दर फ़खुर होना चाहिए – बाबा हमको क्या सिखलाते हैं। बहुत ऊंचा पुरूषार्थ करते हैं फिर भी करेंगे। यह सब बातें और कोई नहीं जानते। बाप है गुप्त। तुमको कितना रोज़ समझाते हैं। तुमको कितनी नॉलेज देते हैं। उन लोगों का जाना है हद तक। तुम बेहद में जाते हो। वह चन्द्रमा तक जाते हैं, अब वह तो बड़ी-बड़ी बत्तियां हैं, और तो कुछ है नहीं। उनको धरनी बहुत छोटी देखने में आती है। तो उन्हों की जिस्मानी नॉलेज और तुम्हारी नॉलेज में कितना फ़र्क है। तुम्हारी आत्मा कितनी छोटी है। परन्तु रॉकेट बड़ा तीखा है। आत्मायें ऊपर में रहती हैं फिर आती हैं पार्ट बजाने। वह भी सुप्रीम आत्मा है। परन्तु उनकी पूजा कैसे हो। भक्ति भी जरूर होनी ही है।

बाबा ने समझाया है आधाकल्प है ज्ञान दिन, आधाकल्प है भक्ति रात। अभी संगमयुग पर तुम ज्ञान लेते हो। सतयुग में तो ज्ञान होता नहीं इसलिए इसको पुरूषोत्तम संगमयुग कहा जाता है। सबको पुरूषोत्तम बनाते हैं। तुम्हारी आत्मा कितना दूर-दूर जाती है, तुमको खुशी है ना। वह हुनर दिखाते हैं तो बहुत पैसे मिलते हैं। भल कितना भी मिलें परन्तु तुम समझते हो वह कुछ भी साथ चलना नहीं है। अभी मरे कि मरे। सब खत्म हो जाने वाला है। अभी तुमको कितने वैल्युबुल रत्न मिलते हैं, इनकी वैल्यु कोई गिनी नहीं जाती। लाख-लाख रूपया एक-एक वर्शन्स का है। कितने समय से तुम सुनते ही आते हो। गीता में कितनी वैल्युबुल नॉलेज है। यह एक ही गीता है जिसको मोस्ट वैल्युबुल कहते हैं। सर्वशास्त्रमई शिरोमणी श्रीमत भगवत गीता है। वो लोग भल पढ़ते रहते हैं परन्तु अर्थ थोड़ेही समझते हैं। गीता पढ़ने से क्या होगा। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पावन बनेंगे। भल वह गीता पढ़ते हैं परन्तु एक का भी बाप से योग नहीं। बाप को ही सर्वव्यापी कह देते हैं। पावन भी बन नहीं सकते। अब यह लक्ष्मी-नारायण के चित्र तुम्हारे सामने हैं। इनको देवता कहा जाता है क्योंकि दैवीगुण हैं। तुम आत्माओं को पवित्र बन सबको अपने घर जाना है। नई दुनिया में तो इतने मनुष्य होते नहीं। बाकी सब आत्माओं को जाना पड़ेगा अपने घर। तुमको बाप भी वन्डरफुल नॉलेज देते हैं, जिससे तुम मनुष्य से देवता बहुत ऊंच बनते हो। तो ऐसी पढ़ाई पर अटेन्शन भी इतना चाहिए। यह भी समझते हैं जैसा जिसने कल्प पहले अटेन्शन दिया है, ऐसा देते रहेंगे। मालूम पड़ता रहता है। बाप सर्विस का समाचार सुनकर खुश भी होते हैं। बाप को कभी चिट्ठी ही नहीं लिखते हैं तो समझते हैं उनका बुद्धियोग कहाँ ठिक्कर भित्तर तरफ लग गया है। देह-अभिमान आया हुआ है, बाप को भूल गये हैं। नहीं तो विचार करो लव मैरेज होती है तो उनका कितना आपस में प्यार रहता है। हाँ, कोई-कोई के ख्याल बदल जाते हैं तो फिर स्त्री को भी मार डालते हैं। यह तुम्हारी है उनके साथ लव मैरेज। बाप आकर तुमको अपना परिचय देते हैं। तुम आपेही परिचय नहीं पाते हो। बाप को आना पड़ता है। बाप आयेगा तब जबकि दुनिया पुरानी होगी। पुरानी को नई बनाने जरूर संगम पर ही आयेंगे। बाप की ड्युटी है नई दुनिया स्थापन करने की। तुमको स्वर्ग का मालिक बना देते हैं तो ऐसे बाप के साथ कितना लव होना चाहिए फिर क्यों कहते कि बाबा हम भूल जाते हैं। कितना ऊंच ते ऊंच बाप है। इनसे ऊंचा कोई होता ही नहीं। मनुष्य मुक्ति के लिए कितना माथा मारते, उपाय करते हैं। कितनी झूठ ठगी चल रही है। महर्षि आदि का कितना नाम है। गवर्मेन्ट 10-20 एकड़ जमीन दे देती है। ऐसे नहीं कि गवर्मेन्ट कोई इरिलीजस है, उनमें कोई मिनिस्टर रिलीज़स है, कोई अनरिलीजस है। कोई धर्म को मानते ही नहीं। कहा जाता है रिलीजन इज़ माइट। क्रिश्चियन में माइट थी ना। सारे भारत को हप करके गये। अभी भारत में कोई माइट नहीं है। कितना झगड़ा मारामारी लगी पड़ी है। वही भारत क्या था। बाप कैसे, कहाँ आते हैं, किसको कुछ भी पता नहीं। तुम जानते हो मगध देश में आते हैं, जहाँ मगरमच्छ होते हैं। मनुष्य ऐसे हैं जो सब-कुछ खा जाएं। सबसे जास्ती वैष्णव भारत था। यह वैष्णव राज्य है ना। कहाँ यह महान् पवित्र देवतायें, कहाँ आजकल देखो क्या-क्या हप करते जाते हैं। आदमखोर भी बन जाते हैं। भारत की क्या हालत हो गई है। अभी तुमको सारा राज़ समझा रहे हैं। ऊपर से लेकर नीचे तक पूरा ज्ञान देते हैं। पहले-पहले तुम ही इस पृथ्वी पर होते हो फिर मनुष्य वृद्धि को पाते हैं। अभी थोड़े समय में हाहाकार हो जायेगा फिर हाय-हाय करते रहेंगे। स्वर्ग में देखो कितना सुख है। यह एम आब्जेक्ट की निशानी देखो। यह सब तुम बच्चों को धारणा भी करनी है। कितनी बड़ी पढ़ाई है। बाप कितना क्लीयर कर समझाते हैं। माला का राज़ भी समझाया है। ऊपर में फूल है शिवबाबा, फिर मेरू….. प्रवृत्ति मार्ग है ना। निवृति मार्ग वालों को तो माला फेरने का हुक्म नहीं। यह है ही देवताओं की माला, उन्होंने कैसे राज्य लिया है, तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोई-कोई हैं जो बेधड़क हो किसको भी समझाते हैं-आओ तो हम आपको ऐसी बात बतायें जो और कोई बता ही नहीं सकते। सिवाए शिवबाबा के और कोई जानते ही नहीं। उन्हों को यह राजयोग किसने सिखाया। बहुत रसीला बैठ समझाना चाहिए। यह 84 जन्म कैसे लेते, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र….। बाप कितनी सहज नॉलेज बताते हैं और पवित्र भी बनना है तब ही ऊंच पद पायेंगे। सारे विश्व पर शान्ति स्थापन करने वाले तुम हो। बाप तुमको राज्य-भाग्य देते हैं। दाता है ना। वह कुछ लेता नहीं है। तुम्हारी पढ़ाई की यह है प्राइज़। ऐसी प्राइज़ तो और कोई दे न सके। तो ऐसे बाप को प्यार से क्यों नहीं याद करते हैं। लौकिक बाप को तो सारा जन्म याद करते हो। पारलौकिक को क्यों नहीं याद करते हो। बाप ने बताया है युद्ध का मैदान है, टाइम लगता है पावन बनने में। इतना ही समय लगता है जब तक लड़ाई पूरी हो। ऐसे नहीं जो शुरू में आये हैं वह पूरे पावन होंगे। बाबा कहते हैं माया की लड़ाई बड़ी जोर से चलती है। अच्छे-अच्छे को भी माया जीत लेती है। इतनी तो बलवान है। जो गिरते हैं वह फिर मुरली भी कहाँ से सुनें। सेन्टर में तो आते ही नहीं तो उनको कैसे पता पड़े। माया एकदम वर्थ नाट ए पेनी बना देती है। मुरली जब पढ़ें तब सुजाग हों। गन्दे काम में लग जाते हैं। कोई सेन्सीबुल बच्चा हो जो उनको समझावे-तुमने माया से कैसे हार खाई है। बाबा तुमको क्या सुनाते हैं, तुम फिर कहाँ जा रहे हो। देखते हैं इनको माया खा रही है तो बचाने की कोशिश करनी चाहिए। कहाँ माया सारा हप न कर लेवे। फिर से सुजाग हो जाएं। नहीं तो ऊंच पद नहीं पायेंगे। सतगुरू की निंदा कराते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से साइलेन्स का हुनर सीखकर इस हद की दुनिया से पार बेहद में जाना है। फ़खुर (नशा) रहे बाप हमें कितना वन्डरफुल ज्ञान देकर, कितनी बड़ी प्राइज़ देते हैं।

2) बेधड़क होकर बहुत रसीले ढंग से सेवा करनी है। माया की लड़ाई में बलवान बन जीत पानी है। मुरली सुनकर सुजाग रहना है और सबको सुजाग करना है।

वरदान:- स्वराज्य के संस्कारों द्वारा भविष्य राज्य अधिकार प्राप्त करने वाली तकदीरवान आत्मा भव
बहुतकाल के राज्य अधिकारी बनने के संस्कार बहुतकाल भविष्य राज्य अधिकारी बनायेंगे। अगर बार-बार वशीभूत होते हो, अधिकारी बनने के संस्कार नहीं हैं तो राज्य अधिकारियों के राज्य में रहेंगे, राज्य भाग्य प्राप्त नहीं होगा। तो नॉलेज के दर्पण में अपने तकदीर की सूरत को देखो। बहुत समय के अभ्यास द्वारा अपने विशेष सहयोगी कर्मचारी वा राज्य कारोबारी साथियों को अपने अधिकार से चलाओ। राजा बनो तब कहेंगे तकदीरवान आत्मा।
स्लोगन:- सकाश देने की सेवा करने के लिए बेहद की वैराग्य वृत्ति को इमर्ज करो।

TODAY MURLI 7 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 November 2018 :- Click Here

07/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the more you remember the Father, the more the locks on your intellects will open. Those who repeatedly forget to have remembrance of the Father are called unlucky children.
Question: What is the basis of accumulating in your account? What brings the greatest income?
Answer: You accumulate in your account by donating. To whatever extent you give the Father’s introduction to others, to that extent, your income increases. You earn a huge income by studying the murlis. These murlis change you from ugly to beautiful. There is Godly magic in the murli. It is by studying the murli that you become very wealthy.
Song: We have to follow the path on which we may fall and have to be cautious.

Om shanti. The spiritual Father explains to you children: Children, you have to fall andyou have to be cautious. To forget the Father repeatedly means to fall and to remember the Father is to be cautious. Maya makes you forget the Father. This is a new aspect. In fact, no one can ever forget his father. A wife would never forget her husband. As soon as they become engaged, their intellects yoga is connected to one another. There is no question of forgetting. A husband is a husband and a father is a father. Now, this one is the incorporeal Father and is also called the Bridegroom. Devotees are called brides. At this time all are devotees whereas there is only the one God. Devotees are called brides and God is called the Bridegroom. Similarly, devotees are called children and God is called the Father. Now, the Husband of all husbands and the Father of all fathers is One. The Supreme Soul is in fact the Father of every single soul, whereas each one has an individual physical father. That parlokik, Supreme Father is the only one God, the Father , of all souls. His name is Shiv Baba. If you simply address an envelope: God, the Father, Mount Abu, would your letter arrive here? You have to write the name on it. That one is the unlimited Father. His name is Shiva. People talk about Shiva Kashi. There is a Shiva Temple there. Surely, He must have been there too. They show that Rama went here and there and that Gandhi went here and there. So, it is true that there is an image of Shiv Baba here and there. However, He is incorporeal. He is called the Father. No one else can be called the Father of all. He is also the Father of Brahma, Vishnu and Shankar. His name is Shiva. There is the temple to Him at Kashi and there is also a temple in Ujjain. No one knows why so many temples have been built to Him. Similarly, those who worship Lakshmi and Narayan say that they were the masters of heaven, but no one knows when heaven existed or how they became the masters of it. If worshippers do not know the occupation of the ones they worship, they are called those with blind faith. Here, too, although some of you say “Baba”, you still don’t have full recognition. You don’t know the Mother and Father. The worshippers of Lakshmi and Narayan worship them. They also go to the temples of Shiva and praise Him and sing: You are the Mother and Father. However, they don’t know how He is their Mother and Father or when He became that. The people of Bharat do not understand anything at all. Christians and Buddhists etc. remember Christ and Buddha. They can instantly tell you their biography, that Christ came at such-and-such a time to establish the Christianreligion, whereas the people of Bharat do not know anything about the ones they worship. They don’t know anything about Shiva, nor do they know Brahma, Vishnu or Shankar, or the World Mother (Jagadamba) or the World Father or Lakshmi or Narayan; they just continue to worship them. They don’t know anything about their biographies. The Father sits here and explains to souls: When you were in the golden age, souls and bodies were both pure; you used to rule there. You know that you truly ruled there. Then, while taking rebirth and experiencing 84 births, you lost that kingdom and from beautiful, you became ugly. You were beautiful, but have now become ugly. Nowadays, they make Narayan’s picture dark blue too, to show that Krishna was Narayan. However, people don’t understand these aspects at all. The Yadavas were the ones who invented the missiles and the Kauravas and the Pandavas were brothers. Those brothers were devilish whereas these brothers are divine. These brothers also used to be devilish. However, the Father makes them into elevated, divine brothers. So, what happened to the two sets of brothers? There was definitely victory for the Pandavas whereas the Kauravas were destroyed. While sitting here, although some say “Mama” and “Baba”, they don’t know them. They do not follow the Father’s shrimat. They don’t know that Baba is teaching them Raja Yoga. They are not able to maintain that faith. Because of being body conscious, they remember their bodily friends and relatives etc. Here, you have to remember the bodiless Father. This is a new aspect which no human being is able to explain. Even while sitting here with the Mother and Father, some don’t recognise Him. This is a wonder. Although they have taken birth here, they don’t recognise Him, because He is incorporeal. They are not able to understand Him clearly. Then, because they don’t follow His directions, they become those who run away, even after having been amazed by the knowledge. If they do not recognise the One who gives them the inheritance of heaven for 21 births, they run away. Those who recognise the Father are said to be fortunate. It is only the one Father who liberates everyone from sorrow. There is a great deal of sorrow in the world. In any case, this kingdom is corrupt. According to the drama, after 5000 years, there will again be the same corrupt world. Then the Father will come again to establish the pure and elevated kingdom of self-sovereignty of the golden age. You have come here to become deities from human beings. This is the world of human beings. The world of deities exists in the golden age. Here, there are impure human beings. Pure deities exist in the golden age. Only those who become Brahmins have this explained to them. Those who become Brahmins will continue to receive explanations. Not everyone will become a Brahmin. Those who become Brahmins are the ones who will later become deities. If they don’t become Brahmins, they cannot become deities. Once they say “Mama” and “Baba,” they enter the Brahmin clan. Then, everything else depends on how much effort they make to study. A kingdom is being established. Abraham and Buddha etc. do not establish a kingdomChrist came alone and entered someone’s body to establish the Christian religion. Then the souls who belong to the Christian religion continued to follow him down from up above. All the Christian souls are now here. Now, at the end, everyone has to go back home. The Father becomes the Guide for everyone and liberates them from sorrow. The Father is the Liberator and the Guide for the whole of humanity. He will take all souls back. Souls cannot return home because they are impure. The incorporeal world is pure. This corporeal world is now impure. Now, who can purify them all, so that they can return to the incorporeal world? This is why they call out: O God , the Father , come! God , the Father , comes and tells us that He only comes once, when the whole world has become corrupt. They continue to make so many bullets and bombs etc. in order to kill one another. On the one hand, they are making bombs, and on the other hand, there will be natural calamitiesfloods and earthquakes etc. Lightening will flash, and people will fall ill, because fertilizer has to be made! Fertilizer is usually made out of rubbish. This whole world is going to need manure in order to produce first-class crops. Only Bharat existed in the golden age. So many are now going to be destroyed. The Father says: I come to establish the deity kingdom; everything else is to be destroyed and you will then go to heaven. Everyone remembers heaven, but no one knows what heaven is. When someone dies, they say that he has gone to heaven. Ah! but if someone dies in the iron age, he would surely take rebirth in the iron age. Some don’t even have this much sense. Although they give themselves such titles as Doctor of Philosophy etc., they don’t understand anything. Human beings used to be worthy of living in a temple. That was the ocean of milk whereas it is now the ocean of poison. It is the Father who explains all of these things. He teaches human beings. He doesn’t teach animals. The Father explains: This drama is predestined. As is a wealthy person, so is his furniture. The poor have clay pots whereas the wealthy would have so many material possessions. You are wealthy in the golden age and so you have palaces of gold and diamonds. There is neither dirt etc. there, nor any bad odours. Here, there are bad odours. This is why incense sticks are lit. There, there is the natural fragrance of flowers etc. There is no need to light incense sticks there. It is called heaven ! The Father is teaching you in order to make you into the masters of heaven. Just look how ordinary He is! You even forget to remember such a Father. You forget Him because you don’t have full faith. It is a matter of such misfortune to forget the Mother and Father from whom you receive your inheritance of heaven. The Father comes and makes you the highest of all. If you do not follow the directions of such a Mother and Father, you would be considered to be 100% most unlucky. Everyone will be numberwise. There is such a huge difference between becoming a master of the world by studying and becoming a maid or servant. You can understand to what extent you are studying. Elsewhere, founders of religions come to establish their religions, whereas here, there is the Mother and Father because this is the family path. It used to be the pure family path and it is now the impure family path. When Lakshmi and Narayan were pure, their children were also pure. You understand what you will become. The Mother and Father makes you so elevated and so you should follow Him. It is Bharat that is called the MotherFather country. In the golden age, everyone was pure whereas here, everyone is impure. Everything is explained so clearly to you, yet you do not remember the Father, and so the locks on your intellects remain closed. While listening, you renounce the study; the locks on your intellect become completely locked. In schools , too, they are numberwise. Reference is made to a stone intellect and a divine intellect. Those with stone intellects do not understand anything, because they don’t remember the Father for even five minutes out of the whole day. If they were to remember Him for five minutes, the locks on their intellects would open that much. If they were to remember Him more, the locks would open fully. Everything depends on remembrance. Some children write a letter to Baba addressed: “Dear Baba” or “Dear Dada”. Now, if you simply address the letter to “Dear Dada” and post it, would it arrive here? You definitely need to write the name. There are many Dadas and Dadis in the world. Achcha. Today is Deepawali. People open new accounts at Deepawali. You are true Brahmins. Those brahmin priests make businessmen open new accounts. You also have to keep new accounts, but these are for the new world. The accounts of the path of devotion are of unlimited loss. You attain the unlimited inheritance and you attain unlimited peace and happiness. The unlimited Father sits here and explains these unlimited aspects, but only the children who are to receive unlimited happiness are able to understand all of these things. Only a handful out of multimillions come to the Father. Some, while moving along, start losing their income. Then, whatever they have accumulated is cancelled. Your account increases when you donate to others. If you do not donate, your income does not increase. You are making effort to increase your income. That will only happen when you donate to others and enable them to receive benefit. To give the Father’s introduction to someone means to accumulate. If you do not give the Father’s introduction, you do not accumulate anything. Your income is extremely great. You can earn a true income by studying the murli, but you need to know whose murli it is. You children also know that those who have become ugly have to listen to the murli in order to become beautiful. “There is magic in Your murli”. They speak of God’s magic. So, there is Godly magic in this murli. It is now that you have this knowledge. Deities did not have this knowledge. Since they didn’t have this knowledge, how could those who came after them have this knowledge? All the scriptures that were written later on will also be destroyed. There are very few of your true Gitas, whereas they must number hundreds of thousands in the world. In fact, it is these pictures that are the true Gita. They are not able to understand as much from those Gitas as they can from these pictures. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study very well and make yourself fortunate. In order to become a deity, become a firmBrahmin.
  2. In order to remember the bodiless Father, become soul conscious. Practise forgetting your body.
Blessing: May you be a contented soul who invokes divine virtues by making an offering of all your defects into the sacrificial fire.
On Deepawali, special attention is paid to cleanliness and to earning an income. Similarly, you have to keep the aim of having cleanliness in every way and also of earning an income and becoming a contented soul. It is only with contentment that you are able to invoke all the divine virtues. The offering of defects will then be made automatically. Finish weaknesses, deficiencies, feelings of being powerless and the delicate nature that remain within you and now begin a new account, wear the new clothes of new sanskars and celebrate the true Deepawali.
Slogan: Only those whose light of awareness is constantly lit can become the lamps of the Brahmin clan.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 November 2018

To Read Murli 6 November 2018 :- Click Here
07-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जितना तुम बाप को याद करेंगे उतना तुम्हारी बुद्धि का ताला खुलेगा, जिन्हें घड़ी-घड़ी बाप की याद भूल जाती है, वह हैं अनलकी बच्चे”
प्रश्नः- खाता जमा करने का आधार क्या है? सबसे बड़ी कमाई किसमें है?
उत्तर:- खाता जमा होता है दान करने से। जितना तुम दूसरों को बाप का परिचय देंगे उतना आमदनी वृद्धि को पाती जायेगी। मुरली से तुम्हारी बहुत बड़ी कमाई होती है। यह मुरली सांवरे से गोरा बनाने वाली है। मुरली में ही खुदाई जादू है। मुरली से ही तुम मालामाल बनते हो।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….

ओम् शान्ति। रूहानी बाप समझा रहे हैं बच्चों को कि बच्चे गिरना और सम्भलना है। घड़ी-घड़ी बाप को भूलते हो अर्थात् गिरते हो। याद करते हो तो सम्भलते हो। माया बाप की याद भुलवा देती है क्योंकि नई बात है ना। ऐसे तो कोई बाप को कभी भूलते नहीं। स्त्री कभी अपने पति को भूलती नहीं। सगाई हुई और बुद्धियोग लटका। भूलने की बात नहीं होती। पति, पति है। बाप, बाप है। अब यह तो है निराकार बाप, जिसको साजन भी कहते हैं। सजनी कहा जाता है भक्तों को। इस समय सब हैं भक्त। भगवान् एक है। भक्तों को सजनियां, भगवान् को साजन या भक्तों को बालक, भगवान् को बाप कहा जाता है। अब पतियों का पति वा पिताओं का पिता वह एक है। हर एक आत्मा का बाप परमात्मा तो है ही। वह लौकिक बाप हर एक का अलग-अलग है। यह पारलौकिक परमपिता सभी आत्माओं का बाप एक ही गॉड फादर है, उनका नाम है शिवबाबा। सिर्फ गॉड फादर, माउण्ट आबू लिखने से बताओ चिट्ठी पहुँचेगी? नाम तो लिखना पड़े ना। यह तो बेहद का बाप है। उनका नाम है शिव। शिवकाशी कहते हैं ना। वहाँ शिव का मन्दिर है। जरूर वहाँ भी गये होंगे। दिखाते हैं ना राम यहाँ गया, वहाँ गया, गांधी यहाँ गया……. तो बरोबर शिवबाबा का भी चित्र है। परन्तु वह तो है निराकार। उनको फादर कहा जाता है, और किसको सबका फादर कह नहीं सकते। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी वह फादर है। उनका नाम है शिव। काशी में भी मन्दिर हैं, उज्जैन में भी शिव का मन्दिर है। इतने मन्दिर क्यों बने हैं, कोई भी नहीं जानते। जैसे लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते हैं, कहते हैं यह स्वर्ग के मालिक थे परन्तु स्वर्ग कब था, यह मालिक कैसे बने, यह कोई नहीं जानते। पुजारी जिसकी पूजा करे उनके ही आक्यूपेशन को न जाने तो इसको अन्धश्रधा कहा जायेगा ना। यहाँ भी बाबा कहते हैं परन्तु पूरा परिचय नहीं है। मात-पिता को जानते नहीं। लक्ष्मी-नारायण के पुजारी पूजा करते हैं, शिव के मन्दिर में जाकर महिमा करते हैं, गाते हैं तुम मात-पिता……. परन्तु वह कैसे मात-पिता है, कब बने थे – कुछ भी नहीं जानते। भारतवासी ही बिल्कुल नहीं जानते। क्रिश्चियन, बौद्धी आदि अपने क्राइस्ट को, बुद्ध को याद करते हैं। झट उनकी बायोग्राफी को बतायेंगे – क्राइस्ट फलाने समय पर क्रिश्चियन धर्म की स्थापना करने आया था। भारतवासी किसको भी पूजते हैं, उनको पता नहीं है कि यह कौन हैं? न शिव को, न ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को, न जगत अम्बा, जगतपिता को, न लक्ष्मी-नारायण को जानते, सिर्फ पूजा करते रहते हैं। उन्हों की बायोग्राफी क्या है, कुछ भी नहीं जानते। बाप आत्माओं को बैठ समझाते हैं – तुम जब स्वर्ग में थे तो तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों पवित्र थे, तुम राज्य करते थे। तुम जानते हो बरोबर हम राज्य करते थे, हमने पुनर्जन्म लिये, 84 जन्म भोगते-भोगते बादशाही गँवा दी। गोरे से काले बन गये हैं। सुन्दर थे, अब श्याम बन गये हैं। आजकल नारायण को सांवरा दिखाते हैं तो सिद्ध होता है वही कृष्ण नारायण था। परन्तु इन बातों को बिल्कुल समझते नहीं।

यादव हैं मूसल इन्वेंट करने वाले और कौरव-पाण्डव भाई-भाई थे। वह आसुरी भाई और यह दैवी भाई थे। यह भी आसुरी थे, इन्हों को बाप ने ऊंच बनाकर दैवी भाई बनाया है। दोनों भाइयों का क्या हुआ? बरोबर पाण्डवों की जीत हुई, कौरव विनाश हो गये। यहाँ बैठे हुए भी भल मम्मा-बाबा कहते हैं परन्तु जानते नहीं हैं। बाप की श्रीमत पर नहीं चलते हैं। जानते नहीं हैं कि बाबा हमको राजयोग सिखला रहे हैं। निश्चय नहीं रहता। देह-अभिमानी होने कारण, देह के मित्र-सम्बन्धियों आदि को याद करते हैं। यहाँ तो देही बाप को याद करना है। यह नई बात हो गई। मनुष्य कोई समझा न सके। यहाँ मात-पिता के पास बैठे हुए भी उनको जानते नहीं। यह वन्डर है ना। जन्म ही यहाँ हुआ। फिर भी जानते नहीं क्योंकि निराकार है। उनको अच्छी रीति समझ नहीं सकते। उसकी मत पर नहीं चलते तो फिर आश्चर्यवत् भागन्ती हो जाते हैं। जिससे स्वर्ग का 21 जन्मों का वर्सा मिलता है, उनको नहीं जानने से भाग जाते हैं। जो बाप को जानते हैं उनको बख्तावर कहा जाता है। दु:ख से लिबरेट करने वाला तो एक ही बाप है। दुनिया में दु:ख तो बहुत है ना। यह है ही भ्रष्टाचारी राज्य। ड्रामा अनुसार फिर भी 5 हजार वर्ष बाद ऐसी ही भ्रष्टाचारी सृष्टि होगी, फिर बाप आकर सतयुगी श्रेष्ठाचारी स्वराज्य स्थापन करेंगे। तुम मनुष्य से देवता बनने आये हो। यह है मनुष्यों की दुनिया। देवताओं की दुनिया सतयुग में होती है। यहाँ हैं पतित मनुष्य, पावन देवतायें सतयुग में होते हैं। यह तुमको ही समझाया जाता है जो तुम ब्राह्मण बने हो। जो ब्राह्मण बनते जायेंगे उनको समझाते जायेंगे। सब तो ब्राह्मण नहीं बनेंगे। जो ब्राह्मण बनते हैं वही फिर देवता बनेंगे। ब्राह्मण न बना तो देवता बन न सके। बाबा-मम्मा कहा तो ब्राह्मण कुल में आया। फिर है सारा पढ़ाई के पुरुषार्थ पर मदार। यह किंगडम स्थापन हो रही है और इब्राहम, बुद्ध आदि कोई किंगडम स्थापन नहीं करते हैं। क्राइस्ट अकेला आया। किसी में प्रवेश कर क्रिश्चियन धर्म स्थापन किया फिर जो क्रिश्चियन धर्म की आत्मायें ऊपर में हैं, वह आती रहती हैं। अभी सब क्रिश्चियन्स की आत्मायें यहाँ हैं। अभी अन्त में सबको वापिस जाना है। बाप सभी का गाइड बन सबको दु:ख से लिबरेट करते हैं। बाप ही है सारी ह्युमिनटी का लिबरेटर और गाइड। सब आत्माओं को वापस ले जायेंगे। आत्मा पतित होने कारण वापिस जा नहीं सकती है। निराकारी दुनिया तो पावन है ना। अभी यह साकारी सृष्टि पतित है। अब इन सबको पावन कौन बनाये, जो निराकारी दुनिया में जा सकें? इसलिए बुलाते हैं ओ गॉड फादर आओ। गॉड फादर आकर बतलाते हैं कि मैं एक ही बार आता हूँ, जब सारी दुनिया भ्रष्टाचारी बन जाती है। कितनी गोलियां, बारुद आदि बनाते रहते हैं – एक-दो को मारने के लिए। एक तो बाम्ब्स बना रहे हैं दूसरे फिर नैचुरल कैलेमिटीज़, फ्ल्ड्स, अर्थ क्वेक आदि होंगी, बिजली चमकेगी, बीमार पड़ जायेंगे क्योंकि खाद तो बननी है ना। गन्द की ही खाद बनती है ना। तो इस सारी सृष्टि को खाद चाहिए जो फिर फर्स्ट क्लास उत्पत्ति हो। सतयुग में सिर्फ भारत ही था। अब इतने सबका विनाश होना है। बाप कहते हैं मैं आकर दैवी राजधानी स्थापन करता हूँ और सब ख़त्म हो जायेंगे, बाकी तुम स्वर्ग में जायेंगे। स्वर्ग को तो सब याद करते हैं ना। परन्तु स्वर्ग कहा किसको जाता है – यह कोई को पता नहीं। कोई भी मरेगा कहेंगे स्वर्गवासी हुआ। अरे, कलियुग में जो मरेंगे तो जरूर पुनर्जन्म कलियुग में ही लेंगे ना। इतना भी अक्ल कोई में नहीं है। डॉक्टर आफ फिलॉसाफी आदि नाम रखाते हैं, समझते कुछ नहीं। मनुष्य मन्दिर में रहने वाले थे। वह है क्षीर सागर, यह है विषय सागर। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। पढ़ायेंगे तो मनुष्यों को, जानवर को तो नहीं पढ़ायेंगे।

बाप समझाते हैं यह ड्रामा बना हुआ है। जैसा साहूकार मनुष्य वैसा फरनीचर होगा। गरीब के पास ठिक्कर-ठोबर होगा, साहूकार के पास तो इतने वैभव होंगे। तुम सतयुग में साहूकार बनते हो तो तुम्हारे हीरे-जवाहरों के महल होते हैं। वहाँ पर कोई गन्दगी आदि नहीं होती, बांस नहीं होती। यहाँ तो बांस होती है इसलिए अगरबत्ती आदि जगाई जाती है। वहाँ तो फूलों आदि में नैचुरल खुशबू रहती है। अगरबत्ती जलाने की दरकार नहीं पड़ती, उनको हेविन कहा जाता है। बाप हेविन का मालिक बनाने के लिए पढ़ाते हैं। देखो, कैसे साधारण है। ऐसे बाप को याद करना भी भूल जाते हैं! निश्चय पूरा नहीं तो भूल जाते हैं। जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है, ऐसे मात-पिता को भूल जाना कैसी बदकिस्मती है। बाप आकर ऊंच ते ऊंच बनाते हैं। ऐसे मात-पिता की मत पर न चले तो 100 परसेन्ट मोस्ट अनलकी कहेंगे। नम्बरवार तो होंगे ना। कहाँ पढ़ाई से विश्व का मालिक बनना, कहाँ नौकर चाकर बनना! तुम समझ सकते हो हम कहाँ तक पढ़ते हैं। वहाँ सिर्फ धर्म पितायें आते हैं धर्म स्थापन करने, यहाँ मात-पिता है क्योंकि प्रवृत्ति मार्ग है ना। पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था। अभी है अपवित्र प्रवृत्ति मार्ग। लक्ष्मी-नारायण पवित्र थे तो उन्हों की सन्तान भी पवित्र थी। तुम जानते हो हम क्या बनेंगे? मात-पिता कितना ऊंच बनाते हैं तो फालो करना चाहिए ना! भारत को ही मदर फादर कन्ट्री कहा जाता है। सतयुग में सब पवित्र थे, यहाँ पतित हैं। कितना अच्छी रीति समझाया जाता है परन्तु बाप को याद नहीं करते तो बुद्धि का ताला बन्द हो जाता है। सुनते-सुनते पढ़ाई छोड़ देते हैं तो ताला एकदम बंद हो जाता है। स्कूल में भी नम्बरवार हैं। पत्थरबुद्धि और पारसबुद्धि कहा जाता है। पत्थरबुद्धि कुछ भी समझते नहीं, सारे दिन में 5 मिनट भी बाप को याद नहीं करते। 5 मिनट याद करेंगे तो इतना ही ताला खुलेगा। जास्ती याद करेंगे तो अच्छी रीति ताला खुल जायेगा। सारा मदार याद पर है। कोई-कोई बच्चे बाबा को पत्र लिखते हैं – प्रिय बाबा वा प्रिय दादा। अब सिर्फ प्रिय दादा पोस्ट में चिट्ठी डालो तो मिलेगी? नाम तो चाहिए ना! दादा-दादियां तो दुनिया में बहुत हैं। अच्छा!

आज दीपावली है। दीपावली पर नया खाता रखते हैं। तुम सच्चे सच्चे ब्राह्मण हो। वह ब्राह्मण लोग व्यापारियों से नया खाता रखाते हैं। तुमको भी अपना नया खाता रखना है। परन्तु यह है नई दुनिया के लिए। भक्ति मार्ग का खाता है बेहद घाटे का। तुम बेहद का वर्सा पाते हो, बेहद की सुख-शान्ति पाते हो। यह बेहद की बातें बेहद का बाप बैठ समझाते हैं और बेहद का सुख पाने वाले बच्चे ही यह सब समझ सकते हैं। बाप के पास कोटों में कोई ही आते हैं। चलते-चलते कमाई में घाटा पड़ता है तो जो जमा किया है वह भी ना हो जाती है। तुम्हारा खाता वृद्धि को तब पाता है जब कोई को दान देते हो। दान नहीं देते हो तो आमदनी की वृद्धि नहीं होती है। तुम पुरुषार्थ करते हो आमदनी की वृद्धि हो। वह तब होगी जब किसको दान करेंगे, फायदा प्राप्त करायेंगे। कोई को बाप का परिचय दिया, गोया जमा हुआ। परिचय नहीं देते हो तो जमा भी नहीं होता है। तुम्हारी कमाई बहुत-बहुत बड़ी है। मुरली से तुम्हारी सच्ची कमाई होती है, सिर्फ यह मालूम पड़ जाए कि मुरली किसकी है? यह भी तुम बच्चे जानते हो जो सांवरे बन गये हैं उन्हों को ही गोरा बनने के लिए मुरली सुननी है। मुरली तेरी में है जादू। खुदाई जादू कहते हैं ना। तो इस मुरली में खुदाई जादू है। यह ज्ञान भी तुमको अभी है। देवताओं में यह ज्ञान नहीं था। जब उनमें ही ज्ञान नहीं था तो पिछाड़ी वालों में ज्ञान कैसे हो सकता? शास्त्र आदि भी जो बाद में बनते हैं वह सब ख़त्म हो जायेंगे। तुम्हारी यह सच्ची गीतायें तो बहुत थोड़ी हैं। दुनिया में तो वह गीतायें लाखों की अन्दाज में होंगी। वास्तव में यह चित्र ही सच्ची गीता हैं। उस गीता से इतना नहीं समझ सकेंगे जितना इन चित्रों से समझ सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अच्छी रीति पढ़ाई पढ़कर स्वयं को बख्तावर (तकदीरवान) बनाना है। देवता बनने के लिए पक्का ब्राह्मण बनना है।

2) देही बाप को याद करने के लिए देही-अभिमानी बनना है। देह को भी भूलने का अभ्यास करना है।

वरदान:- दिव्य गुणों के आह्वान द्वारा सर्व अवगुणों की आहुति देने वाले सन्तुष्ट आत्मा भव
जैसे दीपावली पर विशेष सफाई और कमाई का ध्यान रखते हैं। ऐसे आप भी सब प्रकार की सफाई और कमाई का लक्ष्य रख सन्तुष्ट आत्मा बनो। सन्तुष्टता द्वारा ही सर्व दिव्य गुणों का आह्वान कर सकेंगे फिर अवगुणों की आहुति स्वत: हो जायेगी। अन्दर जो कमजोरियाँ, कमियां, निर्बलता, कोमलता रही हुई है, उन्हें समाप्त कर अब नया खाता शुरू करो और नये संस्कारों के नये वस्त्र धारण कर सच्ची दीपावली मनाओ।
स्लोगन:- ब्राह्मण कुल के दीपक वही बन सकते जिनके स्मृति की ज्योति सदा जगी हुई है।
Font Resize