daily murli 7 december

TODAY MURLI 7 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 December 2020

07/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have met the Father once again after a long time. Therefore, you are very dear, long-lost and now-found children.
Question: What is the way to make your stage constant?
Answer: Always remember every second that passes is in the drama, that it also happened like that in the previous cycle. Praise and defamation, respect and disrespect will all now come in front of you. Therefore, in order to make your stage constant, don’t think about the past.

Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children. What is the name of the spiritual Father? Shiv Baba. He is the Father of all spirits. What is the name of all the spiritual children? Souls. Bodily beings are given names; all souls have the same name. You children also know that there are many spiritual gatherings (satsangs). This is the true Company of the Truth where the true Father teaches Raj Yoga and takes us to the golden age. There cannot be any other spiritual gathering or school like this one. Only you children understand this. The whole world cycle is in the intellects of you children. Only you children are spinners of the discus of self-realisation. The Father sits here and explains to you how the world cycle turns. Whenever you explain to someone, take him in front of the picture of the cycle: Now, you will go in this direction. The Father says to the living beings: Consider yourselves to be souls. This is not anything new. You know that you listen to this every cycle and that you are now listening to it once again. You don’t keep any bodily father, teacher or guru in your intellects. You know that bodiless Shiv Baba is your Father, Teacher and Guru. They don’t speak like this in any other spiritual gathering. There is only this one Madhuban. Those people show a Madhuban in Vrindavan. People on the path of devotion have created that. In fact, this is the practical Madhuban. It is in your intellects that you have been taking rebirth through the golden and silver ages and have now come to the confluence age in order to become the most elevated beings. The Father has come and reminded us. You now know who takes 84 births and how. People simply speak about this without understanding anything. The Father explains to you very well. There were satopradhan souls in the golden age and they had satopradhan bodies. At this time, it is not the golden age; this is the iron age. We were the only ones who existed in the golden age. Then, while gradually moving along and taking rebirth, we came into the iron age and we definitely have to go around the cycle again. We now have to return to our home. You are the long-lost and now-found children. The long-lost and now-found children are those who were lost for a long time and were then found again after a long time. You come and meet Baba after 5000 years. Only you children know that that is the same Father who came and gave you the knowledge of the world cycle 5000 years ago. He made you into spinners of the discus of self-realisation. The Father has now come and met us again in order to give us our birthright. The Father makes you realise this here. The realisation of the soul and of 84 births is included in this. The Father sits here and explains all of this, just as He explained to you 5000 years ago, in order to change you from ordinary humans into deities, from those who are poverty-stricken into those who are crowned. You understand that you have taken 84 re-births. Those who have not taken 84 re-births will not come here to study. Some will only understand a little; it is numberwise. You have to live at home with your families. Not everyone will come and stay here. Only those who want to claim a very good status will come here to be refreshed. Those who are to claim a low status will not make a lot of effort. This knowledge is such that even if you only make a little effort, it does not go to waste. Souls will go there after experiencing punishment. If you make effort well, there is less punishment. Your sins cannot be absolved without you staying on the pilgrimage of remembrance. Repeatedly remind yourself of this. First of all, explain to anyone you meet: Consider yourself to be a soul. A name is given to the body later; you are only able to call someone by using his or her bodily name. It is only at this confluence age that the unlimited Father calls you, “spiritual children”. You say that the spiritual Father has come. The Father calls you “spiritual children”. First is the spirit and then the name of the child. You spiritual children understand the things that the spiritual Father explains to you. Your intellects understand that Shiv Baba is present in this lucky chariot and is teaching us the same easy Raj Yoga. There cannot be any other human being in whom the Father comes and teaches Raj Yoga. That Father only comes at the most auspicious confluence age. No other human being can say this or explain in this way. Only you understand that these teachings are not given by this father. This one didn’t know that the iron age is to come to an end and that the golden age will come. This one doesn’t have any physical guru now. All other human beings say that so-and-so is their guru, that so-and-so merged into the element of light. Everyone has a physical guru. All the founders of religions are also bodily beings. Who established this religion? The Supreme Father, the Supreme Soul, Trimurti Shiv Baba established it through Brahma. The name of this one’s body is Brahma. Christians say that Christ established their religion. However, he was a bodily being. There is his image too. What picture would you show of the Founder of this religion? You only show the image of Shiv Baba. Some make large images of Shiv Baba and others make small ones. However, He is just a point. He has a name and form, but He is subtle; you cannot see Him with your physical eyes. Shiv Baba departed having given you children your fortune of the kingdom and this is why you remember Him. Shiv Baba says: Manmanabhav! Remember Me, the one Father! Don’t defame anyone! You souls should not keep any bodily being in your intellects. This is something that has to be understood very clearly. Shiv Baba is teaching us. Continue to repeat this throughout the day. God Shiva speaks: First of all, you have to understand Alpha. If you haven’t explained Alpha properly and start explaining beta, theta etc. to others, nothing will sit in their intellects. Some say that what you are saying is right whereas others say that they want time to understand these things. Some say that they will think about it. So many different types of people come. These are new things. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva sits here and teaches souls. The thought arises: What should we do so that people can understand these things? Only Shiva is the Ocean of Knowledge. How can a soul who doesn’t have a body be called the Ocean of Knowledge? He is definitely the Ocean of Knowledge. Therefore, He must have spoken this knowledge at some time. This is why He is called the Ocean of Knowledge. Otherwise, why would they call Him that? When someone has studied the Vedas and scriptures a great deal, he is called a scholar of those. The Father is called the Authority, the Ocean of Knowledge. He definitely came here and then departed. First of all, you should ask people whether it is now the iron age or the golden age. Is this the old world or the new world? Your aim and objective is in front of you. If Lakshmi and Narayan were here, it would be their kingdom. It wouldn’t be the old world and there would be no poverty. Now there are just their images. They show models of them in temples. Otherwise, if they were here, their palaces and gardens would be so huge; they wouldn’t just live in temples. The house of the President is so large. Deities live in huge palaces; they have a lot of land. There is no question of fear there. There, the flowers are in constant bloom; there are no thorns there. That is the garden. There, they don’t burn any wood etc. Smoke created by burning wood is uncomfortable. There, we live in a very small area. Later, expansion takes place. There will be very good gardens filled with fragrance everywhere. There won’t be any jungles there. Though you can’t see it, you can now feel it. You see huge palaces etc. in trance, but you cannot create them here. You have visions of them and then they disappear. You have had visions, have you not? There will be kings, princes and princesses. Heaven will be very beautiful, just as Mysore here is very beautiful. There will be very good air there. There will be many waterfalls. The soul thinks of making very good things because he remembers heaven. You children realise what will exist there and where you will live. You have this awareness at this time. Look at the images and see how fortunate you are! There will be nothing of sorrow there. We were in heaven and have now come down. We now have to go to heaven again. How can we go there? Will you hang on to a rope and go there? We souls are residents of the land of peace. The Father has reminded you that you are now becoming deities and are making others the same. So many have visions while sitting at home. Those who are in bondage have never seen Baba, but look how those souls dance! Souls experience happiness as they come closer to their home. You understand that Baba has come to give you knowledge and to decorate you. One day, this will eventually be printed in the newspapers. Now praise and defamation, respect and disrespect, all come in front of you. You know that the same thing happened in the previous cycle too. You mustn’t worry about what happened a second ago. It was also printed in the papers in the same way in the previous cycle. You have to make effort. Whatever upheaval took place, it happened. At least your name has become known. You responded to them. Some study and others don’t. They don’t have the time; they remain engaged in other work. It is now in your intellects that this is a huge unlimited drama. It continues to tick away as the cycle continues to turn. Whatever happens this second will repeat again after 5000 years. You think about whatever happened a second after it happened. Any mistake that happens becomes fixed in the drama. The same mistake also happened in the previous cycle, and that has now become the past. You then tell yourself that you will not do that in the future and that you will continue to make effort. You have been told that it is not good to make the same mistake over and over again. Such actions are not good. Your conscience would bite if you performed wrong action. The Father tells you what you must not do because it would cause someone sorrow. You are forbidden to do that. The Father tells you that you mustn’t do that. If you take something without asking, that is called stealing. Don’t perform such actions! Don’t speak bitter words! Look at what the world is like today! If someone becomes angry with his servant, he creates enmity. There, lion and lamb live together like milk and sugar. There is salt water and there is milk and sugar. In the golden age all souls live together like milk and sugar, whereas in this world of Ravan all human beings live together like salt water. Even fathers and sons are like salt water. Lust is the greatest enemy. People use the sword of lust and continue to cause one another sorrow. This whole world is like salt water whereas the golden-aged world is like milk and sugar. What does the world know of these things? People say that heaven is thousands of years old. Therefore, nothing can enter their intellects. It only enters the intellects of those who were deities. You know that those deities existed in the golden age. Those who took 84 births will come again to study and will become flowers from thorns. This is the only university of the Father and its branches continue to emerge. When God comes, you become His helpers with whom God Himself establishes a kingdom. You understand that you are helpers of God. Those people do physical service whereas you do spiritual service. Baba is teaching us souls how to do spiritual service because spirits (souls) have become tamopradhan. Baba is once again making you satopradhan. Baba says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. This is the fire of yoga. The ancient yoga of Bharat is remembered. There are many types of artificial yoga. This is why Baba says that it is all right to call this the pilgrimage of remembrance. By remembering Shiv Baba, you will go to the land of Shiva. That is the land of Shiva, the other is the land of Vishnu and this is the land of Ravan. After the land of Vishnu, it becomes the land of Rama. After the sun dynasty, there is the moon dynasty. That is a common thing. For half the cycle, there are the golden and silver ages. Then, for the other half, there are the copper and iron ages. You are now at the confluence age. Only you children know this. Those who imbibe this very well will also explain to others. We are at the auspicious confluence age. If they were to keep this in their intellects, the whole drama would also enter their intellects. However, they continue to remember their iron-aged bodily relations. The Father says: You have to remember the one Father. The Bestower of Salvation for All, who teaches Raj Yoga, is only the One. This is why Baba has explained that it is only with the birth of Shiv Baba that the whole world is changed. Only you Brahmins know that you are at the most auspicious confluence age. Only those who are Brahmins have the knowledge of the Creator and creation in their intellects. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t perform any actions that would cause others sorrow. Don’t speak bitter words. Remain very much like milk and sugar.
  2. Do not defame any bodily being. Keep it in your intellect that Shiv Baba is teaching you. Praise that One alone. Become spiritual helpers.
Blessing: May you imbibe the Father’s virtues while seeing everyone’s virtues and become an embodiment of virtues.
At the confluence age, the children who wear a garland of virtues enter the rosary of victory. This is why, you have to become a holy swan and, while seeing everyone’s virtues, you yourself imbibe the Father’s virtues. Let this garland of virtues be around everyone’s neck. To the extent that they imbibe the Father’s virtues, accordingly, they have such a big garland around their necks. By turning the beads of the rosary of virtues, you yourself will become an embodiment of virtues. As a memorial of this, a garland has been shown around the necks of the deities and the shaktis (goddesses).
Slogan: The stage of a detached observer is the throne for making accurate decisions.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम बहुत समय के बाद फिर से बाप से मिले हो इसलिए तुम बहुत-बहुत सिकीलधे हो”
प्रश्नः- अपनी स्थिति को एकरस बनाने का साधन क्या है?
उत्तर:- सदा याद रखो जो सेकेण्ड पास हुआ, ड्रामा। कल्प पहले भी ऐसे ही हुआ था। अभी तो निंदा-स्तुति, मान-अपमान सब सामने आना है इसलिए अपनी स्थिति को एकरस बनाने के लिए पास्ट का चिंतन मत करो।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझा रहे हैं। रूहानी बाप का नाम क्या है? शिवबाबा। वह सब रूहों का बाप है। सब रूहानी बच्चों का नाम क्या है? आत्मा। जीव का नाम पड़ता है, आत्मा का नाम वही रहता है। यह भी बच्चे जानते हैं सतसंग ढेर हैं। यह है सच्चा-सच्चा सत का संग जो सत बाप राजयोग सिखाकर हमको सतयुग में ले जाते हैं। ऐसे और कोई भी सतसंग वा पाठशाला नहीं हो सकती है। यह भी तुम बच्चे जानते हो। सारा सृष्टि चक्र तुम बच्चों की बुद्धि में है। तुम बच्चे ही स्वदर्शन चक्रधारी हो। बाप बैठ समझाते हैं यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। किसको भी समझाओ तो चक्र के सामने खड़ा करो। अब तुम इस तरफ जायेंगे। बाप जीव आत्माओं को कहते हैं अपने को आत्मा समझो। यह नई बात नहीं, जानते हो कल्प-कल्प सुनते हैं, अब फिर से सुन रहे हैं। तुम्हारी बुद्धि में कोई भी देहधारी बाप, टीचर, गुरू नहीं है। तुम जानते हो विदेही शिवबाबा हमारा टीचर, गुरू है। और कोई भी सतसंग आदि में ऐसी बात नहीं करते होंगे। मधुबन तो यह एक ही है। वो फिर एक मधुबन वृन्दावन में दिखाते हैं। वह भक्ति मार्ग में मनुष्यों ने बैठ बनाये हैं। प्रैक्टिकल मधुबन तो यह है। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम सतयुग त्रेता से लेकर पुनर्जन्म लेते-लेते अभी संगम पर आकर खड़े हुए हैं – पुरुषोत्तम बनने के लिए। हमको बाप ने आकर स्मृति दिलाई है। 84 जन्म कौन और कैसे लेते हैं, वह भी तुम जानते हो। मनुष्य तो सिर्फ कह देते हैं, समझते कुछ नहीं। बाप अच्छी रीति समझाते हैं। सतयुग में सतोप्रधान आत्मायें थी, शरीर भी सतोप्रधान थे। इस समय तो सतयुग नहीं है, यह है कलियुग। गोल्डन एज में हम थे। फिर चक्र लगाकर पुनर्जन्म लेते-लेते हम आइरन एज में आ गये फिर से चक्र जरूर लगाना है। अभी जाना है अपने घर। तुम सिकीलधे बच्चे हो ना। सिकीलधे उनको कहा जाता है जो गुम हो जाते हैं, फिर बहुत समय के बाद मिलते हैं। तुम 5 हज़ार वर्ष के बाद आकर मिले हो। तुम बच्चे ही जानते हो – यह वही बाबा है जिसने 5 हज़ार वर्ष पहले इस सृष्टि चक्र का हमको ज्ञान दिया था। स्वदर्शन चक्रधारी बनाया था। अभी फिर से बाप आकर मिले हैं। जन्म सिद्ध अधिकार देने के लिए। यहाँ बाप रियलाइज कराते हैं। इसमें आत्मा के 84 जन्मों की भी रियलाइजेशन आ जाती है। यह सब बाप बैठ समझाते हैं। जैसे 5 हज़ार वर्ष पहले भी समझाया था – मनुष्य को देवता या कंगाल को सिरताज बनाने के लिए। तुम समझते हो हमने 84 पुनर्जन्म लिए हैं, जिन्होंने नहीं लिये हैं वह यहाँ सीखने के लिए आयेंगे भी नहीं। कोई थोड़ा समझेंगे। नम्बरवार तो होते हैं ना। अपने-अपने घर गृहस्थ में रहना है। सब तो यहाँ नहीं आकर बैठेंगे। रिफ्रेश होने वह आयेंगे जिनको बहुत अच्छा पद पाना होगा। कम पद वाले जास्ती पुरुषार्थ भी नहीं करेंगे। यह ज्ञान ऐसा है थोड़ा भी पुरुषार्थ किया तो वह व्यर्थ नहीं जायेगा। सज़ा खाकर आ जायेंगे। पुरुषार्थ अच्छा करते तो सज़ा भी कम होती। याद की यात्रा बिगर विकर्म विनाश नहीं होंगे। यह तो घड़ी-घड़ी अपने को याद कराओ। कोई भी मनुष्य मिले पहले तो उनको यह समझाना है – अपने को आत्मा समझो। यह नाम तो पीछे शरीर पर मिले हैं, किसको बुलायेंगे शरीर के नाम पर। इस संगम पर ही बेहद का बाप रूहानी बच्चों को बुलाते हैं। तुम कहेंगे रूहानी बाप आया है। बाप कहेंगे रूहानी बच्चे। पहले रूह फिर बच्चों का नाम लेते हैं। रूहानी बच्चों तुम समझते हो रूहानी बाप क्या समझाते हैं। तुम्हारी बुद्धि जानती है – शिवबाबा इस भागीरथ पर विराजमान हैं, हमको वही सहज राजयोग सिखा रहे हैं। और कोई मनुष्य मात्र नहीं जिसमें बाप आकर राजयोग सिखाये। वह बाप आते ही हैं पुरुषोत्तम संगमयुग पर, और कोई भी मनुष्य कभी ऐसे कह न सके, समझा न सके। यह भी तुम जानते हो यह शिक्षा कोई इस बाप की नहीं। इनको तो यह मालूम नहीं था कि कलियुग खत्म हो सतयुग आना है। इनका अब कोई देहधारी गुरू नहीं है और तो सब मनुष्य मात्र कहेंगे हमारा फलाना गुरू है। फलाना ज्योति ज्योत समाया। सबके देहधारी गुरू हैं। धर्म स्थापक भी देहधारी हैं। यह धर्म किसने स्थापन किया? परमपिता परमात्मा त्रिमूर्ति शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा स्थापन किया है। इनके शरीर का नाम ब्रह्मा है। क्रिश्चियन लोग कहेंगे क्राइस्ट ने यह धर्म स्थापन किया। वह तो देहधारी है। चित्र भी हैं। इस धर्म के स्थापक का चित्र क्या दिखायेंगे? शिव का ही दिखायेंगे। शिव के चित्र भी कोई बड़े, कोई छोटे बनाते हैं। है तो वह बिन्दी ही। नाम-रूप भी है परन्तु अव्यक्त है। इन आंखों से ही नहीं देख सकते। शिवबाबा तुम बच्चों को राज्य-भाग्य देकर गये हैं तब तो याद करते हैं ना। शिवबाबा कहते हैं मनमनाभव। मुझ एक बाप को याद करो। किसकी स्तुति नहीं करनी है। आत्मा की बुद्धि में कोई देह याद न आये, यह अच्छी रीति समझने की बात है। हमको शिवबाबा पढ़ाते हैं। सारा दिन यह रिपीट करते रहो। शिव भगवानुवाच पहले-पहले तो अल्फ ही समझना पड़े। यह पक्का नहीं किया और बे ते बताई तो कुछ भी बुद्धि में बैठेगा नहीं। कोई कह देते यह बात तो राइट है। कोई कहते इस समझने में तो टाइम चाहिए। कोई कहते विचार करेंगे। किस्म-किस्म के आते हैं। यह है नई बात। परमपिता परमात्मा शिव आत्माओं को बैठ पढ़ाते हैं। विचार चलता है, क्या करें जो मनुष्यों को यह समझ में आ जाए। शिव ही ज्ञान का सागर है। आत्मा को ज्ञान का सागर कैसे कहते हैं, जिसको शरीर ही नहीं है। ज्ञान का सागर है तो जरूर कभी ज्ञान सुनाया है तब तो उनको ज्ञान सागर कहते हैं। ऐसे ही क्यों कहेंगे। कोई बहुत पढ़ते हैं तो कहा जाता है यह तो बहुत वेद-शास्त्र पढ़े हैं, इसलिए शास्त्री अथवा विद्वान कहा जाता है। बाप को ज्ञान का सागर अथॉरिटी कहा जाता है। जरूर होकर गये हैं। पहले तो पूछना चाहिए अभी कलियुग है या सतयुग? नई दुनिया है या पुरानी दुनिया? एम ऑब्जेक्ट तो तुम्हारे सामने खड़ा है। यह लक्ष्मी-नारायण अगर होते तो उन्हों का राज्य होता। यह पुरानी दुनिया, कंगालपना ही नहीं होता। अभी तो सिर्फ इन्हों के चित्र हैं। मन्दिर में मॉडल्स दिखाते हैं। नहीं तो उन्हों के महल बगीचे आदि कितने बड़े-बड़े होंगे। सिर्फ मन्दिर में थोड़ेही रहते होंगे। प्रेजीडेंट का मकान कितना बड़ा है। देवी-देवता तो बड़े-बड़े महलों में रहते होंगे। बहुत जगह होगी। वहाँ डरने आदि की बात ही नहीं होती। सदैव फुलवाड़ी रहती है। कांटे होते ही नहीं। वह है ही बगीचा। वहाँ तो लकड़ियाँ आदि जलाते नहीं होंगे। लकड़ियों में धुआं होता है तो दु:ख फील होता है। वहाँ हम बहुत थोड़े टुकड़े में रहते हैं। पीछे वृद्धि को पाते जाते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे बगीचे होंगे, खुशबू आती रहेगी। जंगल होगा ही नहीं। अभी फीलिंग आती है, देखते तो नहीं हैं। तुम ध्यान में बड़े-बड़े महल आदि देख आते हो, वह तो यहाँ बना नहीं सकते। साक्षात्कार हुआ फिर गुम हो जायेगा। साक्षात्कार किया तो है ना। राजायें प्रिन्स-प्रिन्सेज होंगे। बहुत रमणीक स्वर्ग होगा। जैसे यहाँ मैसूर आदि रमणीक हैं, ऐसे वहाँ बहुत अच्छी हवायें लगती रहती हैं। पानी के झरने बहते रहते हैं। आत्मा समझती है हम अच्छी-अच्छी चीजें बनायें। आत्मा को स्वर्ग तो याद आता है ना।

तुम बच्चों को रियलाइज़ होता है – क्या-क्या होगा, कहाँ हम रहते होंगे। इस समय यह स्मृति रहती है। चित्रों को देखो तुम कितने खुशनसीब हो। वहाँ दु:ख की कोई बात नहीं होगी। हम तो स्वर्ग में थे फिर नीचे उतरे। अब फिर स्वर्ग में जाना है। कैसे जायें? रस्सी में लटक कर जायेंगे क्या? हम आत्मायें तो रहने वाली हैं शान्तिधाम की। बाप ने स्मृति दिलाई अब तुम फिर देवता बन रहे हो और दूसरों को बना रहे हो। कितने घर बैठे भी साक्षात्कार करते हैं। बांधेलियों ने कभी देखा थोड़ेही है। कैसे आत्मा को उछल आती है। अपना घर नजदीक आने से आत्मा को खुशी होती है। समझते हैं बाबा हमको ज्ञान देकर श्रृंगारने आये हैं। आखरीन एक दिन अखबारों में भी पड़ेगा। अभी तो स्तुति-निंदा, मान-अपमान सब सामने आता है। जानते हैं कल्प पहले भी ऐसे हुआ था, जो सेकण्ड पास हो गया, उसका चिंतन नहीं करना होता। अखबारों में कल्प पहले भी ऐसे पड़ा था। फिर पुरुषार्थ किया जाता है। हंगामा तो जो हुआ था सो हो गया। नाम तो हो गया ना। फिर तुम रेसपाण्ड करते हो। कोई पढ़ते हैं, कोई नहीं पढ़ते हैं। फुर्सत नहीं मिलती। और कामों में लग जाते हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में है – यह बेहद का बड़ा ड्रामा है। टिक-टिक चलती रहती है, चक्र फिरता रहता है। एक सेकण्ड में जो पास हुआ फिर 5 हज़ार वर्ष बाद रिपीट होगा। जो हो गया सेकेण्ड बाद ख्याल में आता है। यह भूल हो गई, ड्रामा में नूंध गया। कल्प पहले भी ऐसे ही भूल हुई थी, पास्ट हो गई। अब फिर आगे के लिए नहीं करेंगे। पुरुषार्थ करते रहते हैं। तुमको समझाया जाता है घड़ी-घड़ी यह भूल अच्छी नहीं है। यह कर्म अच्छा नहीं है। दिल खाती होगी – हमसे यह खराब काम हुआ। बाप समझानी देते हैं, ऐसे नहीं करो, किसको दु:ख होगा। मना की जाती है। बाप बतला देते हैं – यह काम नहीं करना, बिगर पूछे चीज़ उठाया, उसको चोरी कहा जाता है। ऐसे काम मत करो। कडुवा मत बोलो। आजकल दुनिया देखो कैसी है – कोई नौकर पर गुस्सा किया तो वह भी दुश्मनी करने लग पड़ते हैं। वहाँ तो शेर-बकरी आपस में क्षीरखण्ड रहते हैं। लूनपानी और क्षीरखण्ड। सतयुग में सब मनुष्य आत्मायें आपस में क्षीरखण्ड रहती हैं। और इस रावण की दुनिया में सब मनुष्य लूनपानी हैं। बाप बच्चा भी लूनपानी। काम महाशत्रु है ना। काम कटारी चलाए एक-दो को दु:ख देते हैं। यह सारी दुनिया लूनपानी है। सतयुगी दुनिया क्षीरखण्ड है। इन बातों से दुनिया क्या जानें। मनुष्य तो स्वर्ग को लाखों वर्ष कह देते हैं। तो कोई बात बुद्धि में आ न सके। जो देवतायें थे उन्हों को ही स्मृति में आता है। तुम जानते हो यह देवता सतयुग में थे। जिसने 84 जन्म लिए हैं वही फिर से आकर पढ़ेंगे और कांटों से फूल बनेंगे। यह बाप की एक ही युनिवर्सिटी है, इनकी ब्रैन्चेज निकलती रहती हैं। खुदा जब आयेगा तब उनके खिदमतगार बनेंगे, जिनके द्वारा खुद खुदा राजाई स्थापन करेंगे। तुम समझते हो हम खुदा के खिदमतगार हैं। वह जिस्मानी खिदमत करते हैं, यह रूहानी। बाबा हम आत्माओं को रूहानी सर्विस सिखला रहे हैं क्योंकि रूह ही तमोप्रधान बन गई है। फिर बाबा सतोप्रधान बना रहे हैं। बाबा कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। यह योग अग्नि है। भारत का प्राचीन योग गाया हुआ है ना। आर्टीफीशियल योग तो बहुत हो गये हैं इसलिए बाबा कहते हैं याद की यात्रा कहना ठीक है। शिवबाबा को याद करते-करते तुम शिवपुरी में चले जायेंगे। वह है शिवपुरी। वह विष्णुपुरी। यह रावण पुरी। विष्णुपुरी के पीछे है राम पुरी। सूर्यवंशी के बाद चन्द्रवंशी हैं। यह तो कॉमन बात है। आधाकल्प सतयुग-त्रेता, आधाकल्प द्वापर-कलियुग। अभी तुम संगम पर हो। यह भी सिर्फ तुम जानते हो। जो अच्छी रीति धारणा करते हैं, वह दूसरे को भी समझाते हैं। हम पुरुषोत्तम संगमयुग पर हैं। यह किसकी बुद्धि में याद रहे तो भी सारा ड्रामा बुद्धि में आ जाए। परन्तु कलियुगी देह के सम्बन्धी आदि याद आते रहते हैं। बाप कहते हैं – तुमको याद करना है एक बाप को। सर्व का सद्गति दाता राजयोग सिखलाने वाला एक ही है इसलिए बाबा ने समझाया है शिवबाबा की ही जयन्ती है जो सारी दुनिया को पलटाते हैं। तुम ब्राह्मण ही जानते हो, अभी हम पुरुषोत्तम संगमयुग पर हैं। जो ब्राह्मण हैं उनको ही रचयिता और रचना का ज्ञान बुद्धि में है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी ऐसा कर्म नहीं करना है जिससे किसी को दु:ख हो। कड़ुवे बोल नहीं बोलने हैं। बहुत-बहुत क्षीरखण्ड होकर रहना है।

2) किसी भी देहधारी की स्तुति नहीं करनी है। बुद्धि में रहे हमको शिवबाबा पढ़ाते हैं, उस एक की ही महिमा करनी है, रूहानी खिदमतगार बनना है।

वरदान:- सर्व के गुण देखते हुए स्वयं में बाप के गुणों को धारण करने वाले गुणमूर्त भव
संगमयुग पर जो बच्चे गुणों की माला धारण करते हैं वही विजय माला में आते हैं इसलिए होलीहंस बन सर्व के गुणों को देखो और एक बाप के गुणों को स्वयं में धारण करो, यह गुणमाला सभी के गले में पड़ी हुई हो। जो जितने बाप के गुण स्वयं में धारण करते हैं उनके गले में उतनी बड़ी माला पड़ती है। गुणमाला को सिमरण करने से स्वयं भी गुणमूर्त बन जाते हैं। इसी की यादगार में देवताओं और शक्तियों के गले में माला दिखाते हैं।
स्लोगन:- साक्षीपन की स्थिति ही यथार्थ निर्णय का तख्त है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 December 2019

07-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह पावन बनने की पढ़ाई सब पढ़ाइयों से सहज है, इसे बच्चे, जवान, बुढ़े सब पढ़ सकते हैं, सिर्फ 84 जन्मों को जानना है”
प्रश्नः- हर एक छोटे वा बड़े को कौन-सी प्रैक्टिस जरूर करनी चाहिए?
उत्तर:- हर एक को मुरली चलाने की प्रैक्टिस जरूर करनी चाहिए क्योंकि तुम मुरलीधर के बच्चे हो। अगर मुरली नहीं चलाते हो तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। किसी को सुनाते रहो तो मुख खुल जायेगा। तुम हर एक को बाप समान टीचर जरूर बनना है। जो पढ़ते हो वह पढ़ाना है। छोटे बच्चों को भी यह पढ़ाई पढ़ने का हक है। वह भी बेहद के बाप का वर्सा लेने के अधिकारी हैं।

ओम् शान्ति। अभी आती है शिवबाबा की जयन्ती। उस पर कैसे समझाना चाहिए? बाप ने तुमको समझाया है वैसे तुमको फिर औरों को समझाना है। ऐसे तो नहीं, बाबा जैसे तुमको पढ़ाता है वैसे बाबा को ही सबको पढ़ाना है। शिवबाबा ने तुमको पढ़ाया है, जानते हो इस शरीर द्वारा पढ़ाया है। बरोबर हम शिवबाबा की जयन्ती मनाते हैं। हम नाम भी शिव का लेते हैं, वह तो है ही निराकार। उनको शिव कहा जाता है। वो लोग कहते हैं-शिव तो जन्म-मरण रहित है। उनकी फिर जयन्ती कैसे होगी? यह तो तुम जानते हो कैसे नम्बरवार मनाते आते हैं। मनाते ही रहेंगे। तो उन्हों को समझाना पड़े। बाप आकर इस तन का आधार लेते हैं। मुख तो जरूर चाहिए, इसलिए गऊमुख की ही महिमा है। यह राज़ ज़रा पेंचीला है। शिवबाबा के आक्यूपेशन को समझना है। हमारा बेहद का बाप आया हुआ है, उनसे ही हमको बेहद का वर्सा मिलता है। बरोबर भारत को बेहद का वर्सा था और किसको होता नहीं। भारत को ही सचखण्ड कहा जाता है और बाप को भी ट्रूथ कहा जाता है। तो यह बातें समझानी पड़ती हैं फिर कोई को जल्दी समझ में नहीं आता है। कोई झट समझ जाते हैं। यह योग और एज्यूकेशन (पढ़ाई) दोनों खिसकने वाली चीजें हैं। उसमें भी योग जास्ती खिसकता है। नॉलेज तो बुद्धि में रहती ही है बाकी याद ही घड़ी-घड़ी भूलते हैं। नॉलेज तो तुम्हारी बुद्धि में है ही कि हम कैसे 84 जन्म लेते हैं, जिनको यह नॉलेज है वही बुद्धि से समझ सकते हैं कि जो पहले-पहले नम्बर में आते हैं वही 84 जन्म लेंगे। पहले ऊंच ते ऊंच लक्ष्मी-नारायण को कहेंगे। नर से नारायण बनने की कथा भी नामीग्रामी है। पूर्णमासी पर बहुत जगह सत्यनारायण की कथा चलती है। अभी तुम जानते हो हम सचमुच बाबा द्वारा नर से नारायण बनने की पढ़ाई पढ़ते हैं। यह है पावन बनने की पढ़ाई, और है भी सब पढ़ाईयों से बिल्कुल सहज। 84 जन्मों के चक्र को जानना है और फिर यह पढ़ाई सबके लिए एक ही है। बूढ़े, बच्चे, जवान जो भी हो सबके लिए एक ही पढ़ाई है। छोटे बच्चों को भी हक है। अगर माँ-बाप इन्हों को थोड़ा-थोड़ा सिखाते रहें तो टाइम तो बहुत पड़ा है। बच्चों को भी यह सिखाया जाता है कि शिवबाबा को याद करो। आत्मा और शरीर दोनों का बाप अलग-अलग है। आत्मा बच्चा भी निराकारी है तो बाप भी निराकारी है। यह भी तुम बच्चों की बुद्धि में है वह निराकार शिवबाबा हमारा बाप है, कितना छोटा है। यह अच्छी रीति याद रखना है। भूलना नहीं चाहिए। हम आत्मा भी बिन्दी मिसल छोटी हैं। ऐसे नहीं, ऊपर जायेंगे तो बड़ी दिखाई पड़ेगी, नीचे छोटी हो जायेगी। नहीं, वह तो है बिन्दी। ऊपर में जायेंगे तो तुमको जैसे देखने में भी नहीं आयेगी। बिन्दी है ना। बिन्दी क्या देखने में आयेगी। इन बातों पर बच्चों को अच्छी रीति विचार भी करना है। हम आत्मा ऊपर से आई हैं, शरीर से पार्ट बजाने। आत्मा घटती-बढ़ती नहीं है। आरगन्स पहले छोटे, पीछे बड़े होते हैं।

अभी जैसे तुमने समझा है वैसे फिर औरों को समझाना है। यह तो जरूर है नम्बरवार जो जितना पढ़ा है उतना ही पढ़ाते हैं, सबको टीचर भी जरूर बनना है, सिखाने लिए। बाप में तो नॉलेज है, वह इतनी छोटी-सी परम आत्मा है, सदैव परमधाम में रहते हैं। यहाँ एक ही बार संगम पर आते हैं। बाप को पुकारते भी तब हैं जब बहुत दु:खी होते हैं। कहते हैं आकर हमको सुखी बनाओ। बच्चे अब जानते हैं हम पुकारते रहते हैं-बाबा, आकर हमको पतित दुनिया से नई सतयुगी सुखी पावन दुनिया में ले चलो अथवा वहाँ जाने का रास्ता बताओ। वह भी जब खुद आवे तब तो रास्ता बतावे। वह आयेंगे तब जब दुनिया को बदलना होगा। यह बड़ी सिम्पुल बातें हैं, नोट करना है। बाबा ने आज यह समझाया है, हम भी ऐसे समझाते हैं। ऐसी प्रैक्टिस करते-करते मुख खुल जायेगा। तुम मुरलीधर के बच्चे हो, तुम्हें मुरलीधर जरूर बनना है। जब औरों का कल्याण करेंगे तब तो नई दुनिया में ऊंच पद पायेंगे। वह पढ़ाई तो है यहाँ के लिए। यह है भविष्य नई दुनिया के लिए। वहाँ तो सदैव सुख ही सुख है। वहाँ 5 विकार तंग करने वाले होते ही नहीं। यहाँ रावण राज्य अर्थात् पराये राज्य में हम हैं। तुम ही पहले अपने राज्य में थे। तुम कहेंगे नई दुनिया, फिर भारत को ही पुरानी दुनिया कहा जाता है। गायन भी है नई दुनिया में भारत…… ऐसे नहीं कहेंगे कि नई दुनिया में इस्लामी, बौद्धी। नहीं। अभी तुम्हारी बुद्धि में है बाप आकर हम बच्चों को जगाते हैं। ड्रामा में पार्ट ही उनका ऐसा है। भारत को ही आकर स्वर्ग बनाते हैं। भारत ही पहला देश है। भारत पहले देश को ही स्वर्ग कहा जाता है। भारत की आयु भी लिमिटेड है। लाखों वर्ष कहना यह तो अनलिमिटेड हो जाता है। लाखों वर्ष की कोई बात स्मृति में आ ही न सके। नया भारत था, अब पुराना भारत ही कहेंगे। भारत ही नई दुनिया होगी। तुम जानते हो हम अभी नई दुनिया के मालिक बन रहे हैं। बाप ने राय बताई है मुझे याद करो तो तुम्हारी आत्मा नई प्योर बन जायेगी फिर शरीर भी नया मिलेगा। आत्मा और शरीर दोनों सतोप्रधान बनते हैं। तुमको राज्य मिलता ही है सुख के लिए। यह भी ड्रामा अनादि बना हुआ है। नई दुनिया में सुख और शान्ति है। वहाँ कोई तूफान आदि नहीं होते। बेहद की शान्ति में सब शान्त हो जाते हैं। यहाँ है अशान्ति तो सब अशान्त हैं। सतयुग में सब शान्त होते हैं। वन्डरफुल बातें हैं ना। यह अनादि बना-बनाया खेल है। यह हैं बेहद की बातें। वह हद की बैरिस्टरी, इन्जीनियरी आदि पढ़ते हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में बेहद की नॉलेज है। एक ही बार बाप आकर बेहद ड्रामा का राज़ समझाते हैं। आगे तो यह नाम भी नहीं सुना था कि बेहद का ड्रामा कैसे चलता है। अभी समझते हो सतयुग-त्रेता जरूर वह पास्ट हो गया, उसमें इनका राज्य था। त्रेता में राम राज्य था, पीछे फिर और-और धर्म आये हैं। इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन…… सब धर्मों का पूरा मालूम है। यह सब 2500 वर्ष के अन्दर आये हैं। उसमें 1250 वर्ष कलियुग है। सब हिसाब है ना। ऐसे तो नहीं, सृष्टि की आयु ही 2500 वर्ष है। नहीं। अच्छा, फिर और कौन था, विचार किया जाता है। इन्हों के आगे बरोबर देवी-देवता…… वह भी थे तो मनुष्य ही। परन्तु दैवीगुणों वाले थे। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी 2500 वर्ष में। बाकी आधा में वह सब थे। इससे जास्ती का तो कोई हिसाब-किताब निकल न सके। फुल, पौना, आधा, चौथा। चार हिस्सा हैं। कायदेसिर टुकड़ा-टुकड़ा करेंगे ना। आधा में तो यह हैं। कहते भी हैं सतयुग में सूर्यवंशी राज्य, त्रेता में चन्द्रवंशी रामराज्य – यह तुम सिद्ध कर बतलाते हो। तो जरूर सबसे बड़ी आयु उनकी होगी, जो पहले-पहले सतयुग में आते हैं। कल्प ही 5 हज़ार वर्ष का है। वो लोग 84 लाख योनियां कह देते हैं तो कल्प की आयु भी लाखों वर्ष कह देते। कोई माने भी नहीं। इतनी बड़ी दुनिया हो भी न सके। तो बाप बैठ समझाते हैं-वह सब है अज्ञान और यह है ज्ञान। ज्ञान कहाँ से आया – यह भी किसको पता नहीं है। ज्ञान का सागर तो एक ही बाप है, वही ज्ञान देते हैं मुख से। कहते हैं गऊमुख। इस गऊ माता से तुम सबको एडाप्ट करते हैं। यह थोड़ी-सी बातें समझाने में तो बहुत सहज हैं। एक रोज़ समझाकर फिर छोड़ देंगे तो बुद्धि फिर और-और बातों में लग जायेगी। स्कूल में एक दिन पढ़ा जाता है या रेग्युलर पढ़ना होता है! नॉलेज एक दिन में नहीं समझी जा सकती है। बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं तो जरूर बेहद की पढ़ाई होगी। बेहद का राज्य देते हैं। भारत में बेहद का राज्य था ना। यह लक्ष्मी-नारायण बेहद का राज्य करते थे। किसको यह बातें स्वप्न में भी नहीं हैं, जो पूछें कि इन्होंने राज्य कैसे लिया? उन्हों में प्योरिटी जास्ती थी, योगी हैं ना इसलिए आयु भी बड़ी होती है। हम ही योगी थे। फिर 84 जन्म ले भोगी भी जरूर बनना है। मनुष्य नहीं जानते कि यह भी जरूर पुनर्जन्म में आये होंगे। इन्हों को भगवान-भगवती नहीं कहा जाता। इनसे पहले तो कोई है नहीं जिसने 84 जन्म लिया हो। पहले-पहले जो सतयुग में राज्य करते हैं वही 84 जन्म लेते हैं फिर नम्बरवार नीचे आते हैं। हम आत्मा सो देवता बनेंगे फिर हम सो क्षत्रिय.. डिग्री कम होगी। गाया भी जाता है पूज्य सो पुजारी। सतोप्रधान से फिर तमोप्रधान बनते हैं। ऐसे पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे चले जायेंगे। यह कितना सहज है। परन्तु माया ऐसी है जो सब बातें भुला देती है। यह सब प्वाइंट्स इकट्ठी कर किताब आदि बनायें, लेकिन वह तो कुछ रहेंगी नहीं। यह टैप्रेरी है। बाप ने कोई गीता नहीं सुनाई थी। बाप तो जैसे अब समझा रहे हैं, ऐसे समझाया था। यह वेद-शास्त्र आदि सब बाद में बनते हैं। यह सब होल लॉट जो है, विनाश होगा तो यह सब जल जायेंगे। सतयुग-त्रेता में कोई पुस्तक होता नहीं फिर भक्ति मार्ग में बनते हैं। कितनी चीजें बनती हैं। रावण को भी बनाते हैं परन्तु बेसमझी से। कुछ भी बता नहीं सकते। बाप समझाते हैं यह हर वर्ष बनाते हैं और जलाते हैं, जरूर यह बड़ा दुश्मन है। परन्तु दुश्मन कैसे है, यह कोई नहीं जानते। वह समझते सीता चुरा ले गये इसलिए शायद दुश्मन है। राम की सीता को चुरा ले जावे तो बड़ा डाकू हुआ ना! कभी चोरी की! त्रेता में कहें वा त्रेता के अन्त में। इन बातों पर भी विचार किया जाता है। कभी चोरी होनी चाहिए! कौन से राम की सीता चोरी हुई? राम-सीता की भी राजधानी चली है क्या? एक ही राम-सीता चले आये हैं क्या? यह तो शास्त्रों में जैसे एक कहानी लिखी हुई है। विचार किया जाता है – कौन-सी सीता? 12 नम्बर होते हैं ना राम-सीता। तो कौन-सी सीता को चुराया? जरूर पिछाड़ी का होगा। यह जो कहते हैं राम की सीता चुराई गई। अब राम के राज्य में सारा समय एक का ही राज्य तो नहीं होगा। जरूर डिनायस्टी होगी। तो कौन-से नम्बर की सीता चुराई? यह सब बहुत समझने की बातें हैं। तुम बच्चे बड़ी शीतलता से किसी को भी यह सब राज़ समझा सकते हो।

बाप समझाते हैं भक्ति मार्ग में मनुष्य कितना धक्का खाते-खाते दु:खी हो गये हैं। जब अति दु:खी होते हैं तब रड़ियां मारते हैं-बाबा इस दु:ख से छुड़ाओ। रावण तो कोई चीज़ नहीं है ना। अगर है तो अपने राजा को फिर हर वर्ष मारते क्यों हैं! रावण की जरूर स्त्री भी होगी। मदोदरी दिखाते हैं। मदोदरी का बुत बनाकर जलायें, ऐसा कभी देखा नहीं है। तो बाप बैठ समझाते हैं यह है ही झूठी माया, झूठी काया…… अभी तुम झूठे मनुष्य से सच्चे देवता बनने बैठे हो। फर्क तो हुआ ना! वहाँ तो सदैव सच बोलेंगे। वह है सचखण्ड। यह है झूठ खण्ड। तो झूठ ही बोलते रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान सागर बाप जो रोज़ बेहद की पढ़ाई पढ़ाते हैं, उस पर विचार सागर मंथन करना है। जो पढ़ा है वह दूसरों को भी जरूर पढ़ाना है।

2) यह बेहद का ड्रामा कैसे चल रहा है, यह अनादि बना-बनाया वन्डरफुल ड्रामा है, इस राज़ को अच्छी रीति समझकर फिर समझाना है।

वरदान:- अपनी सूक्ष्म शक्तियों पर विजयी बनने वाले राजऋषि, स्वराज्य अधिकारी आत्मा भव
कर्मेन्द्रियां जीत बनना तो सहज है लेकिन मन-बुद्धि-संस्कार – इन सूक्ष्म शक्तियों पर विजयी बनना – यह सूक्ष्म अभ्यास है। जिस समय जो संकल्प, जो संस्कार इमर्ज करने चाहें वही संकल्प, वही संस्कार सहज अपना सकें – इसको कहते हैं सूक्ष्म शक्तियों पर विजय अर्थात् राजऋषि स्थिति। अगर संकल्प शक्ति को आर्डर करो कि अभी-अभी एकाग्रचित हो जाओ, तो राजा का आर्डर उसी घड़ी उसी प्रकार से मानना यही है – राज्य अधिकार की निशानी। इसी अभ्यास से अन्तिम पेपर में पास होंगे।
स्लोगन:- सेवाओं से जो दुआयें मिलती हैं यही सबसे बड़े से बड़ी देन हैं।

TODAY MURLI 7 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 December 2019

07/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this study for becoming pure is easier than all other studies. Young ones, adults and the elderly can all study it. You simply have to know your 84 births.
Question: What should each of you, young and old, practise?
Answer: Each of you should practise speaking knowledge because you are the children of Murlidhar. If you do not speak knowledge, you are unable to claim a high status. Keep giving knowledge to someone or other and your mouth will open (you will gain the confidence to speak knowledge). Each one of you must become a teacher like the Father. You have to teach others what you study. Little children also have a right to this education. They too have a right to claim the inheritance from the unlimited Father.

Om shanti. The anniversary of Shiv Baba’s birth will soon be here. How are you going to tell others about it? You have to explain to others in the way that the Father explains to you. It is not that Baba has to teach everyone else just as He teaches you. Shiv Baba teaches you. You know that He is teaching you through this body. You definitely celebrate the birth of Shiva. You also mention Shiva’s name. He is the incorporeal One. He is called Shiva. Those people say: Shiva is beyond the cycle of birth and death. So how can you celebrate His birthday? You understand how you have been celebrating it in different ways and how you will continue to celebrate it. Therefore, you have to explain this to them. The Father comes and takes the support of this body. He definitely does need a mouth to speak and that is why the mouth of the cow is praised. This is a somewhat complicated secret. You have to understand Shiv Baba’s occupation. You understand that our unlimited Father has come. Only from Him do we receive our unlimited inheritance. The people of Bharat definitely had the unlimited inheritance. No one else had this. Bharat is called the land of truth and the Father is also called the Truth. You should explain these things. Nevertheless, some don’t understand this as quickly as others do. Here, both yoga and education can slip away very easily. Of these, yoga is more slippery. Knowledge stays in the intellect but remembrance is repeatedly forgotten. The knowledge of how you take 84 births remains in your intellects. Those who have this knowledge are the ones whose intellects can understand that only those who come in the first number will take 84 births. Lakshmi and Narayan are said to be the first and most elevated deities. The story of changing from an ordinary human into Narayan is also very well known. In many places, on the day of the full moon, they read the story of becoming true Narayan. You understand that you are now truly studying with Baba how to change from a human being into Narayan. This is the study to become pure. It is also the easiest of all studies. You just have to understand the cycle of 84 births. This study is the same for everyone, young and old. Little children have a right to this education too. There is a lot of time for their parents to continue to teach them a little at a time. Children have to be taught to have remembrance of Shiv Baba. The Father of souls is different from a father of bodies. Souls are incorporeal children and the Father too is incorporeal. The intellects of you children know that that incorporeal Shiv Baba is your Father and that He is very tiny. You have to remember this well; you must not forget it. We souls are also as tiny as points. It is not that when you go up you will seem larger, and when you are down, you will appear smaller. No; it is always a point. When you go up above, it would be as though you can’t be seen because you are a point. How can you see a point? You children have to think about these things very deeply. I, this soul, came here from above to play my part through a body. Souls don’t decrease or increase in size. Their physical organs are at first small and then they grow larger. You now have to explain these things to others in the way that you have understood them. It is certain that you will teach this knowledge in the way that you studied it, numberwise. You all definitely have to become teachers and teach this knowledge to everyone. The Father has all this knowledge. He is the very tiny Supreme Soul. He always resides in the supreme abode. He only comes here once, at this confluence age. When people become very unhappy, they call out to the Father: Come and make us happy! You children now understand that you kept calling out: Baba, come and take us away from this impure world to the pure, new, happy world of the golden age. Show us the path to go there. It is only when He Himself comes that He can show you the path. He only comes when the world has to be transformed. This is a very simple matter to understand. Note down what Baba explains each day, so that you can also explain it in the same way. By practising in this way, your mouth will open (you will have the confidence to speak knowledge). You are the children of Murlidhar and so you definitely have to become murlidhars. By benefiting others in this way, you will claim a high status in the new world. Other studies are for here (this world). This study is for the future new world where there is constant happiness. The five vices that cause everyone distress do not exist there. Here, you are in Ravan’s kingdom which is a foreign kingdom. You are the ones who were in your kingdom at the beginning. You would call it the new world. Then Bharat is called the old world. It is said that Bharat exists in the new world. You wouldn’t say that the people of Islam or the Buddhists are in the new world; no. It is now in your intellects that the Father comes and awakens you children. Such is His part in the drama. He comes to change Bharat into heaven. Bharat, the first land, is called heaven. The lifespan of Bharat is limited. To say that it is hundreds of thousands of years makes it unlimited. Things of hundreds of thousands of years couldn’t be remembered by anyone’s intellect. Bharat used to be new; you would say that it is now old. Bharat is to become the new world again. You understand that you are now becoming the masters of the new world. The Father advises you souls to remember Him so that you become new and pure and that you will also receive new bodies. You souls and your bodies become totally satopradhan. You receive the kingdom for only happiness. This drama is eternally predestined. There is happiness and peace in the new world. There are no storms etc. there. In the unlimited world of peace, everyone is peaceful. Here, because there is peacelessness, everyone is peaceless. Everyone in the golden age is peaceful. This is a wonderfulthing. This play is eternally predestined. This is an unlimited aspect. Engineering and “barrister” etc. that others study are limited. Your intellects now have unlimited knowledge. The Father only comes once and explains the secrets of this unlimited drama. You never heard before how this unlimited drama continues to be performed. You now understand how the golden and silver ages passed and how it was the kingdom of deities during that time. In the silver age it was the kingdom of Rama. All the other religions came later on. You know about all the religions such as Islam, Buddhism, Christians etc. They all came in the last 2500 years. The iron age lasts for 1250 years. Everything is accounted for. It is not that the world lasts 2500 years; no. Achcha, who else was there? You have to think about this. Before they came (the different religions), the deities were definitely there. They too were human beings, but they had divine virtues. The sun and the moon dynasties lasted for 2500 years. Everyone else came during the second half of the cycle. No one else can account for any more years. There are four parts: full, three quarters, half and a quarter; it is divided equally. The deities exist during the first half of the cycle. It is said that it was the sun-dynasty kingdom in the golden age and the moon-dynasty kingdom of Rama in the silver age. You can prove that those who come at the beginning of the golden age have the longest lifespan. The cycle is 5000 years, yet those people speak of 8.4 million species. They also say that this cycle lasts for hundreds of thousands of years. No one could accept that. The world population couldn’t be that large. Therefore, the Father sits here and explains: All of that is ignorance whereas this is knowledge. Where did this knowledge come from? No one knows that either. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. He is the One who gives knowledge through this mouth. They speak of “The mouth of the cow”. This refers to all of you being adopted through this mother, this cow. It is very easy to explain this small matter. If you only explain for a day and then stop, their intellects become involved in other matters. Do school children only study for a day or do they study regularlyKnowledge cannot be learnt in one day. The unlimited Father is teaching you, and so the study He teaches must also be unlimited. He gives you the unlimited kingdom. That unlimited kingdom existed in Bharat. Lakshmi and Narayan ruled that unlimited kingdom. No one else even dreams of these things, so they don’t even ask how they claimed their kingdom. Because they were yogi souls, they had a great deal of purity and their lifespan was therefore long. We too were yogis but then, whilst taking 84 births, we definitely had to become those who indulge in sensual pleasures. People don’t know that they too would have taken rebirth. They cannot be called a god and goddess. No one else who takes 84 births would go there before them. Those who rule at the beginning of the golden age are the ones who take 84 births. Then, others come down, numberwise. You souls become deities and then warriors as your celestial degrees continue to decrease. It has been remembered that those who were worthy of worship become worshippers. You change from being satopradhan to tamopradhan. Whilst taking rebirth you come down. Although all of this is very easy to remember, Maya is such that she makes you forget everything. You could collect all of these points of knowledge and make a book of them. However, none of this is going to remain; it is temporary. The Father did not recite any Gita. The Father is now explaining everything in the same way as He did in the previous cycle. All of those Vedas and scriptures etc. will be created later on. All of them, the whole lot, will be burnt when destruction takes place. There are no religious books in the golden and silver ages. They will be created again on the path of devotion. So many things are created on the path of devotion. They create effigies of Ravan but, because they don’t understand why, they are unable to explain anything. The Father explains why they create these effigies every year and burn them. Ravan is definitely a great enemy, but no one knows in what way he is everyone’s enemy. They think that perhaps he is their enemy because he abducted Sita. If he had abducted Rama’s Sita, he would have been a great bandit. When did he abduct her? Would you say, “At the start of the silver age or at the end of the silver age”? You have to think about these things. Could she have been abducted? Which Rama’s Sita was abducted? Was there a kingdom of Rama and Sita? Has there only been one Rama and Sita? This is just like a story in the scriptures! You have to think about which Sita it was. There are twelve Ramas and Sitas. So, which of the Sitas was abducted? It must have been the one at the end. You talk about the abduction of Rama’s Sita. There cannot have been the kingdom of only one within the kingdom of Rama. There must have been a dynasty. So, which number Sita was abducted? All of these matters have to be understood very well. You children can explain to anyone all of these secrets with great coolness. The Father explains that people have become so unhappy whilst stumbling along so much on the path of devotion. When they are in extreme unhappiness, they cry out: Baba, take me away from this sorrow! Ravan is nothing physical. If he were something, why do you kill your king every year? Ravan must have a wife too. They show Madodri as his wife. Have you ever seen anyone make an effigy of Madodri and burn that? Therefore, the Father sits here and explains: All of that is false Maya and false bodies. You are now sitting here to change from false humans into real deities. There is such a difference! There, you will always speak the truth. That is the land of truth whereas this is the land of falsehood in which everything people say is false. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn this unlimited study that the Father, the Ocean of Knowledge, teaches you every day. You must teach others what you study.
  2. Understand very clearly how this unlimited drama is moving along and how it is an eternally predestined and wonderful drama. Then explain the significance of this to others.
Blessing: May you be a Raj Rishi and a master of the self who is victorious over your own subtle powers.
It is easy to become a conqueror of the senses, but it requires subtle practise to become victorious over the mind, intellect and sanskars – your subtle powers. To be able to adopt the sanskar or thought you need at a particular time easily is said to be victorious over your subtle powers; it is the stage of a Raj Rishi. If you order your power of thought to concentrate right now, then for the king’s orders to be obeyed instantly in that way is a sign of being a master of the self. By practising this you will pass the final paper.
Slogan: The blessings you receive by doing service are the greatest gifts of all.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 7 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 December 2018 :- Click Here

07/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t hide anything from the eternal Surgeon. If you are disobedient about anything, ask for forgiveness. Otherwise, the burden will continue to increase and you will become one who defames the name.
Question: What is the basis of a true income? Why are there obstacles to self-progress?
Answer: The basis of a true income is to study. If you don’t study well, you won’t be able to earn a true income. When your company is not right there are obstacles to your progress. It is said: Good company takes you across and bad company drowns you. If you have bad company, you do not study and will fail. It is the company you keep that makes you take one another into the depths of hell. This is why you children have to be very cautious about the influence of the company you keep.
Song: You are the Ocean of Love; we thirst for one drop.

Om shanti. Children sing praise of the unlimited Father. This praise is of the path of devotion. You worthy children now sing praise to the Father personally. You understand that the unlimited Father has come and is giving us knowledge and making us into the masters of heaven because He alone is the Ocean of Knowledge. God has knowledge ; it is called Godly knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who gives knowledge. To whom? To the children. Your Mama is given the name ‘Goddess of Knowledge , and, since Jagadamba is the G oddess of K nowledge, her children should also have the same knowledgeGod gives knowledge to Saraswati, the G oddess of K nowledge , but through whom does He give it? These are matters that have to be understood very well. The world doesn’t know who Jagadamba is. You children know that there is only one Jagadamba. They have given many names. People don’t know that Saraswati is a mouth-born creation of Prajapita Brahma. It is God, the Father, who gives her knowledgeGod, the Father , gives knowledge of how the world cycle turns. The Father gave knowledge to you children. How did Saraswati receive it? Surely, since she is a mouth-born creation of Prajapita Brahma, the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, must have given knowledge to Saraswati through his mouth. He must have given that same knowledge to others too. God, the Father , is teaching you and so, surely, the children of God, the Father , are master gods. This is why she is given the name ‘Goddess of Knowledge . You children know that you and your Mama are now receiving knowledge from the Ocean of Knowledge who is also called the God of the Gita. God is One. No deity or human being can be God. Since she is the G oddess o f K nowledge, which knowledge does she have? That of Raja Yoga. It is with this knowledge of easy Raja Yoga that Saraswati, the Goddess of Knowledge , becomes Lakshmi, the Goddess of Wealth. Since there is praise of the Goddess of K nowledge, there is also praise of you children. All are the children of Prajapita. They wouldn’t be called the children of Mama. They are the children born through the lotus-mouth of Brahma. All of you Godly children have faith. God, the Father, says: I only become present in front of the children. They are the only ones who know Me. So, Jagadamba is the Goddess of Knowledge. This is the knowledge of easy Raja Yoga, not of the scriptures. God gave her this knowledge and she was called a goddess. Jagadamba is the mother. Then, in her next birth, she becomes Lakshmi, the Goddess of Wealth , to whom people beg for something. Therefore, this proves that Jagadamba receives the inheritance of Raja Yoga from the Father. She is called the Goddess of KnowledgeKnowledge is a source of income. This is the true income that you earn through the true Father. You are now earning a true income, numberwise, according to the effort you make. If you don’t study, you cannot earn a true income. If you don’t keep good company you will neither be able to study nor make progress. Good company takes you across and bad company drowns you. If you have bad company and don’t study, you will fail and continue to sit at the back. The Teacher knows the reason for this, but the Father doesn’t know it. Yes, the Father would definitely understand that you haven’t studied enough and that you keep bad company due to which you fail. For instance, if they love each other and neither is studying, they would take one another into the extreme depths of hell. The Father understands that they are not studying and so they should be separated. Without studying, human beings are said to be senseless. If they study, they are said to be sensible. If you don’t follow God’s directions, it would be said that you are a stepchild. However, they don’t understand the meaning of this. You know that those who don’t study will remain impure; they will fail and then run away. The Father says: O Ravan, you even swallow My children! You are so powerful! Children then begin to follow the dictates of Satan; they don’t follow shrimat. You should promise yourself: I will follow Baba’s directions at every step. Those who do not follow shrimat are said to be those with devilish directions. Baba then understands that such ones will not be able to claim a high status. If you are unable to explain to someone, it would be said that you are influenced by Ravan. You’re not having yoga in order for your intellect to become pure. There also has to be the intellect’s yoga. The behaviour of God’s children should be very royal. There cannot be a king who is clever from birth. This is why Baba says: You have to conquer Ravan’s five vices by following shrimat. Baba would say of those who don’t follow shrimat: They are following devilish dictates. Some would follow shrimat five per cent and others would be follow it ten per cent. There is the account. So, Jagadamba is only one. Jagadamba is Saraswati, a mouth-born creation of Brahma. That is her full name. Saraswati has been shown with a sitar. She is the Goddess of Knowledgeand there would surely also be her children. They too should have their sitars. Look, Saraswati is sitting in the picture of the tree. She studies Raja Yoga and then she becomes Lakshmi, the Goddess of Wealth. Health, wealth and happiness are all included in that. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can give that to you. He is H eavenly God, the Father. Look, Mama is now doing service. For instance, if someone gives an invitation to Mama, they should first of all know Mama’s occupation. First of all, they have to have the knowledge of who she is. The world doesn’t know this. They say: Krishna was insulted, but that was not possible. It is impossible. It is Shiv Baba who takes the most insults and then the second number is Brahma; Krishna and Brahma, but no one can insult Krishna. People don’t know that Saraswati, the Goddess of Knowledge , becomes Radhe in the future. It is after her marriage that she becomes Lakshmi, the Goddess of WealthHealth, wealth and happiness are all included. You should have great intoxication in explaining. You have to explain who Mama is. She is Saraswati, the mouth-born daughter of Brahma. The people of Bharat don’t know anything at all. They don’t have any knowledge. There is a lot of blind faith. The people of Bharat have a lot of blind faith. They don’t even know the ones whom they worship. Christians know about their Christ. The Sikhs know that Guru Nanak established the Sikh religion. They know the founder of their religion. It is just the Hindus, the people of Bharat, who don’t know. They continue to worship with blind faith because they don’t know anything about their occupation. Because they have lengthened the duration of the cycle, they don’t understand anything. Those of Islam and the Buddhists come later. There would definitely be those deities prior to them. They would be here for this length of time. If all the other religions take half the cycle, then the one religion also has to be shown as half the cycle. You cannot say that it is hundreds of thousands of years long. Go to the Jagadamba Temple and explain: Who gave this knowledge to this Goddess of Knowledge? It wouldn’t be said that Krishna gave knowledge to Jagadamba. However, only those who practi s e this well will be able to explain. Some have a lot of body consciousness. They continue to remember one or another friend or relative. The Father says: If you remember others, you forget to remember Me. You even sing: We will break away from everyone else and connect ourselves to the One. That One is now sitting here. Baba, I belong to You and I will follow Your directions. I will not perform any such actions that would defame Your name. Many children perform such actions that they defame Baba’s name. Until they understand this, they will continue to hurl insults. The name has also been glorified. O God, Your divine activities are remembered! However, you children can understand that no one else understands this. The Father says: Children, I am doing altruistic service. I also uplift those who defame Me. I make Bharat into the Golden Sparrow. I am number o ne in uplifting you. However, people call Me omnipresent and insult me a great deal. I give you children knowledge. So, there are many obstacles from the devilish community to this sacrificial fire of knowledge. Baba explains that all the rubbish falls here because of the children who are unable to understand this properly. They have Me defamed. Some children do very good service, whereas others even do disservice. On the one side, some carry out construction and, on the other, others also carry out destruction because they don’t have knowledge. The sun and moon dynasty kingdoms are being established. You have to explain to those who don’t fully understand. There is mercy for them. If someone doesn’t claim his inheritance after belonging to the Father, of what use is he? You have found the Father and so you should make full effort and follow shrimat to claim your inheritance. Don’t perform any actions that would defame the Father’s name. The Father knows that lust and anger are great enemies. They continue to catch hold of you by your nose and ears. That will happen, but you have to go beyond it. Some become trapped in someone’s name or form. Not all children are the same. The Father still cautions you: Remain careful! If you perform any wrong actions and have Me defamed, your status will be destroyed. Maya also becomes powerful with the powerful ones and fights them. While you are remembering the Father, storms of Maya take you somewhere else. Some children don’t tell the truth and they don’t seek advice. You mustn’t hide anything from the eternal Surgeon. If you don’t tell Him, you become even more dirty. Don’t think that Baba is Janijananhar (One who knows the secrets within) and that He knows everything; no. You have to tell Shiv Baba about your disobedience. Shiv Baba, I made this mistake and I now wish to ask for forgiveness. If you don’t ask for forgiveness, you will continue to make mistakes. That is, you will continue to increase the burden of sin on your head. The Father explains: Don’t destroy your status for cycle after cycle. If you don’t create a high status now, that will be your condition for cycle after cycle. This is knowledge. Baba knows that the kingdom is being established as it was in the previous cycle. BapDada can understand a lot more. This one is still the specially beloved child. The praise of the mothers has to be increased. The mothers are kept ahead. Baba explains to the brothers: Bring them (the mothers) to the front. The brothers too can do a lot of service. Explain using the pictures: This is God, the Highest on High. Then, there is the Trimurti, Brahma, Vishnu and Shankar. Who is the highest of them? Whose name is mentioned? All would say: It is Prajapita Brahma through whom we receive the inheritance. Shankar or Vishnu would not be called ‘father’. You don’t receive the inheritance from them. This one is called Prajapita Brahma. What inheritance do you receive from him? Brahma is Shiv Baba’s child. Shiv Baba is the Ocean of Knowledge, the One who establishes heaven. Therefore, you surely receive teachings for heaven. These directions are for Raja Yoga. The Father is gives you shrimat through Brahma. This is for you to become deities. That Brahma Kumari then becomes Shri Lakshmi, Goddess of Wealth. These are Brahmins and the others are deities. All are souls in the incorporeal world. Baba explains to the children a great deal, but only those who are to understand will understand. Human beings become follow ers of sannyasis and gurus through blind faith. They don’t even know what they will receive from them. A teacher at least knows that you will receive a status. However, they don’t know what attainment they will receive from those whose followers they become. That is blin d faith they are not followers! Neither do they make you become like them, nor do you become like them. They don’t know what the aim or objective is at all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remain safe from the influence of bad company. Study this true study and accumulate a stock of true income.
  2. Promise yourself that you will follow Baba’s shrimat at every step.
Blessing: May you become an embodiment of total success by knowing the secret of being faithful to One and pleasing the Bestower of Blessings.
The blessings of the Father, the Bestower of Blessings are infinite and whoever wants some can take as many as they want; the treasure-store is open. Some children become full from that open treasure-store whereas others become full according to their capacity. The Innocent Lord, in the form of the Bestower of Blessings, fills your aprons the most. You simply have to know the way to please Him and you will receive total success. The Bestower of Blessings loves one expression the most and that is: “Being faithful to One”. Let there not be anyone else even in your thoughts or dreams. Let it be in your attitude that you belong to One and none other. The aprons of those who understand this secret remain constantly full.
Slogan: Serve through your thoughts and words simultaneously and you will continue to receive double fruit.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 December 2018

To Read Murli 6 December 2018 :- Click Here
07-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अविनाशी सर्जन से कुछ भी छिपाना नहीं है, अवज्ञा हो तो क्षमा लेनी है, नहीं तो बोझ चढ़ता जायेगा, निंदक बन पड़ेंगे”
प्रश्नः- सच्ची कमाई का आधार क्या है? उन्नति में विघ्न क्यों पड़ते हैं?
उत्तर:- सच्ची कमाई का आधार पढ़ाई है। अगर पढ़ाई ठीक नहीं तो सच्ची कमाई कर नहीं सकते। उन्नति में विघ्न तब ही पड़ता जब संग ठीक नहीं। कहा भी जाता है संग तारे कुसंग बोरे। संग खराब होगा तो पढ़ेंगे नहीं, नापास हो जायेंगे। संग ही एक-दो को रसातल में पहुँचा देता है, इसलिए संगदोष से तुम बच्चों को बहुत ही सम्भाल करनी है।
गीत:- तू प्यार का सागर है…….. 

ओम् शान्ति। बेहद के बाप की महिमा बच्चे करते हैं। यह है भक्ति मार्ग की महिमा। तुम सपूत बच्चे अभी सम्मुख में बाप की महिमा करते हो। समझते हो बेहद का बाप आकर हमको ज्ञान दे स्वर्ग का मालिक बना रहे हैं क्योंकि ज्ञान का सागर वही है। गॉड में नॉलेज है। उसको कहते हैं गॉडली नॉलेज। परमपिता परमात्मा नॉलेज देने वाला है। किसको? बच्चों को। जैसे तुम्हारी मम्मा पर गॉडेज आफ नॉलेज नाम रखा हुआ है। तो जब वह जगत अम्बा गॉडेज आफ नॉलेज है तो उनके बच्चों में भी वही नॉलेज होगी। गॉडेज आफ नॉलेज सरस्वती को गॉड नॉलेज देते हैं। परन्तु किस द्वारा देते हैं? यह बड़ी ही समझने की बातें हैं। दुनिया नहीं जानती है कि जगत अम्बा कौन है? यह तो बच्चे जानते हैं जगत अम्बा तो एक ही होगी। नाम बहुत दे दिये हैं। मनुष्य तो यह जानते नहीं कि यह प्रजापिता ब्रह्मा की मुख वंशावली सरस्वती है। उनको नॉलेज देने वाला गॉड फादर है। सृष्टि चक्र कैसे फिरता है – यह नॉलेज गॉड फादर देते हैं। बाप ने नॉलेज दी बच्चों को। सरस्वती को कैसे मिली? जरूर प्रजापिता ब्रह्मा की मुख वंशावली है तो परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है, उसने इस मुख द्वारा सरस्वती को ज्ञान दिया होगा। वही ज्ञान फिर औरों को भी दिया होगा। गॉड फादर पढ़ाते हैं तो जरूर गॉड फादर के बच्चे मास्टर गॉड हुए ना इसलिए नाम रखा हुआ है गॉडेज आफ नॉलेज। बच्चे यह जानते हैं कि हम और हमारी मम्मा नॉलेज ले रही है ज्ञान सागर के द्वारा, जिसको ही गीता का भगवान् कहा जाता है। भगवान् तो एक है। कोई देवता या मनुष्य भगवान नहीं हो सकता। अब गॉडेज आफ नॉलेज है तो कौन-सी नॉलेज होगी? राजयोग की। इस सहज राजयोग की नॉलेज से गॉडेज आफ नॉलेज सरस्वती ही फिर गॉडेज आफ लक्ष्मी बनती है। गॉडेज आफ नॉलेज की महिमा है तो जरूर बच्चों की भी है। प्रजापिता की सब सन्तान ठहरे। मम्मा की सन्तान नहीं कहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा के मुख कमल की यह हैं सन्तान। तुम सब ईश्वरीय सन्तान निश्चय करते हो। ईश्वर बाप कहते हैं मैं बच्चों के ही सम्मुख होता हूँ। वो ही मुझे जानते हैं। तो जगत अम्बा है गॉडेज आफ नॉलेज। यह सहज राजयोग की नॉलेज है, न कि शास्त्रों की। गॉड ने इनको नॉलेज दी और यह गॉडेज कहलाई। जगत अम्बा तो माता ठहरी। फिर दूसरे जन्म में गॉडेज आफ वेल्थ, लक्ष्मी बनती है, जिससे मनुष्य भीख मांगते हैं। तो सिद्ध हुआ बाप द्वारा जगत अम्बा को राजयोग का वर्सा मिलता है। उनको गॉडेज आफ नॉलेज कहा जाता है। नॉलेज सोर्स आफ इनकम है। यह है सच्ची कमाई जो सच्चे बाप द्वारा होती है। तुम अब नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार सच्ची कमाई कर रहे हो। अगर पढ़ाई नहीं करते तो उनकी सच्ची कमाई नहीं होती। संग ठीक नहीं होगा तो पढ़ नहीं सकेंगे, उन्नति नहीं होगी। संग तारे कुसंग बोरे (डुबोये) संग खराब होगा, पढ़ेंगे नहीं, तो नापास हो पिछाड़ी में बैठे रहेंगे। टीचर जानता है इनका क्या कारण है। बाप नहीं जानता है। हाँ, इतना बाप जरूर समझेगा कि पढ़ाई कम की है, जरूर खराब संग है जिसके कारण नापास हो पड़ते हैं। समझो आपस में प्यार है, दोनों नहीं पढ़ते हैं तो एक-दो को रसातल में पहुँचा देंगे। बाप समझते हैं कि यह पढ़ते नहीं, इनको अलग करना चाहिए। पढ़ाई बिगर मनुष्य को कहा जाता है बेसमझ। पढ़ते हैं तो कहेंगे समझदार। भगवान् की मत पर नहीं चलते तो कहा जायेगा यह सौतेला बच्चा है। परन्तु वह अर्थ को नहीं जानते हैं। तुम जानते हो – कोई नहीं पढ़ते हैं तो फिर पतित के पतित ही रह जायेंगे, नापास हो भागन्ती हो जायेंगे। बाप कहते हैं – अहो रावण, तुम हमारे बच्चों को भी हप कर जाते हो। कितना शक्तिशाली हो। बच्चे शैतान की मत पर चल पड़ते हैं। श्रीमत पर नहीं चलते हैं। अपने साथ प्रण करना चाहिए – कदम-कदम हम बाबा की मत पर चलेंगे। जो श्रीमत पर नहीं चलते उनको आसुरी मत वाला कहेंगे। बाबा समझ जाते हैं यह इतना ऊंच पद पा नहीं सकेगा, किसको समझा नहीं सकेगा तो कहेंगे रावण के वश है। योग नहीं है जो बुद्धि शुद्ध हो जाए। बुद्धि का योग भी चाहिए। ईश्वरीय बच्चों की चलन बड़ी रॉयल होनी चाहिए। जमते जाम (जन्म लेते ही होशियार राजा) तो कोई हो नहीं सकता। इस कारण बाबा कहते हैं 5 विकार रूपी रावण पर जीत पानी है, श्रीमत पर। जो श्रीमत पर नहीं चलते तो बाबा कह देते यह आसुरी मत पर हैं। फिर उसमें कोई 5 परसेन्ट श्रीमत पर चलते, कोई 10 परसेन्ट चलते। वह भी हिसाब है।

तो जगत अम्बा एक ही है। जगत अम्बा है ब्रह्मा मुख वंशावली सरस्वती, यह उनका पूरा नाम है। सरस्वती को ही सितार देते हैं। यह है गॉडेज आफ नॉलेज, जरूर उनकी सन्तान भी होंगे। उनको भी तंबूरा होना चाहिए। देखो, झाड़ में यह सरस्वती बैठी है, राजयोग सीख रही है फिर यह जाकर लक्ष्मी बनती है, गॉडेज आफ वेल्थ। इसमें हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस सब आ जाती है। यह तो सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई दे न सके। हेविनली गॉड फादर वह है। अब देखो, मम्मा सर्विस कर रही है। समझो, कहाँ मम्मा को निमंत्रण दें तो पहले मम्मा के आक्यूपेशन को जानें। पहले नॉलेज चाहिए – यह कौन है? दुनिया तो नहीं जानती। कहते हैं कृष्ण को गाली मिली। परन्तु यह तो हो नहीं सकता, इम्पासिबुल है। सबसे जास्ती गाली खाने वाला है शिवबाबा, सेकेण्ड नम्बर में गाली खाने वाला है ब्रह्मा। कृष्ण और ब्रह्मा। परन्तु कृष्ण को गाली दे न सकें। मनुष्यों को यह पता नहीं कि सरस्वती गॉडेज आफ नॉलेज भविष्य में राधे बनती है। स्वयंवर बाद लक्ष्मी बनती है, गॉडेज आफ वेल्थ। उनमें हेल्थ, वेल्थ, हैप्पी सब आ जाता है। तुमको समझाने का बड़ा नशा चाहिए। मम्मा कौन है – यह समझाना पड़े ना। यह है सरस्वती, ब्रह्मा की बेटी मुख वंशावली। भारतवासी कुछ भी जानते नहीं। नॉलेज है नहीं। अन्धश्रद्धा बहुत है। ब्लाइन्ड फेथ में भारतवासी बहुत हैं। पूजा किसकी करते हैं, यह भी नहीं जानते। क्रिश्चियन अपने क्राइस्ट को जानते हैं। सिक्ख लोग जानते हैं कि गुरूनानक ने सिक्ख धर्म स्थापन किया। अपने धर्म स्थापक को जानते हैं। सिर्फ भारतवासी हिन्दू नहीं जानते। अन्धश्रद्धा से पूजा करते रहते हैं, आक्यूपेशन का कुछ भी पता नहीं है। कल्प की आयु बड़ी करने से कुछ भी समझते नहीं। इस्लामी, बौद्धी आदि बाद में आये हैं। उन्हों के आगे जरूर यह देवतायें होंगे। उन्हों का भी इतना समय होगा। इतने और सब धर्मों को आधाकल्प लगता है तो इस एक धर्म को भी आधाकल्प देना पड़े। लाखों वर्ष तो कह नहीं सकते। तुम जगत अम्बा के मन्दिर में जाकर समझायेंगे – इस गॉडेज आफ नॉलेज को यह नॉलेज किसने दी? ऐसे तो नहीं कहेंगे कृष्ण ने जगत अम्बा को नॉलेज दी। परन्तु यह भी समझा वह सकेंगे जिनकी प्रैक्टिस अच्छी है। कोई-कोई को तो देह-अभि-मान बहुत है। कोई न कोई मित्र सम्बन्धी आदि याद पड़ते रहते हैं। बाप कहते हैं औरों को याद करेंगे तो मेरी याद भूल जायेंगे। तुम गाते भी हो और संग तोड़ एक संग जोड़ेंगे। वह तो अब यहाँ बैठे हैं। बाबा हम आपके हैं, आपकी मत पर चलेंगे। ऐसा कोई कर्म नहीं करेंगे जिसमें नाम बदनाम हो। बहुत बच्चे ऐसे-ऐसे काम करते हैं, जिससे नाम बदनाम होता है। जब तक कोई समझे तब तक गाली देते रहते हैं। नाम भी तो बाला हुआ है। अहो, प्रभू तेरी लीला गाई है ना। परन्तु बच्चे समझ सकते हैं, और कोई जानते नहीं। बाप कहते हैं – बच्चे, मैं तो निष्काम सेवा करता हूँ। अपकारियों पर भी उपकार करता हूँ। भारत को ही सोने की चिड़िया बनाता हूँ। नम्बरवन उपकार करने वाला हूँ। परन्तु मनुष्य मुझे सर्वव्यापी कह बहुत गाली देते हैं। मैं तो तुम बच्चों को नॉलेज देता हूँ। तो इस ज्ञान यज्ञ में आसुरी सम्प्रदाय के विघ्न बहुत पड़ते हैं। बाप तो समझाते हैं जो बच्चे अच्छी तरह नहीं समझते हैं उनके कारण ही किचड़ा पड़ता है। ग्लानी कराते हैं। कई बच्चे तो बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, कई डिससर्विस भी करते हैं। एक तरफ कई कन्स्ट्रक्शन करते हैं तो एक तरफ फिर डिस्ट्रक्शन भी करते हैं क्योंकि ज्ञान नहीं है। यह सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन हो रही है। जो पूरी रीति नहीं समझते हैं उनको समझाना है। तरस तो पड़ता है ना। बाप का बनकर और वर्सा नहीं लिया तो वह क्या काम का रहा। बाप मिला है तो पूरा पुरूषार्थ कर वर्सा लेना चाहिए, श्रीमत पर चलना चाहिए। ऐसा कर्तव्य नहीं करना है जिससे बाप की ग्लानी हो। बाप जानते हैं काम, क्रोध यह महाशत्रु हैं। यह नाक-कान से पकड़ते रहते हैं। यह तो होगा। उनसे पार जाना है। कोई तो नाम-रूप में फंस पड़ते हैं। सब बच्चे तो एक जैसे नहीं होते। बाप फिर भी सावधान करते हैं – खबरदार रहना! ऐसे अकर्तव्य कार्य कर अगर निंदा करायेंगे तो पद भ्रष्ट हो पड़ेंगे। रूस्तम के साथ माया भी रूस्तम हो लड़ती है। बाप को याद करते-करते माया का तूफान कहाँ ले जाता है। बच्चे कोई सच बताते नहीं है। राय भी नहीं लेते हैं। अविनाशी सर्जन से कुछ भी छिपाना नहीं है। अगर बताते नहीं हैं तो और ही गन्दे हो जाते हैं। ऐसे नहीं, बाबा जानी जाननहार है, सब समझते हैं। नहीं, तुम जो अवज्ञा करते हो वह आकर बताओ – शिवबाबा मेरे से यह भूल हुई है, क्षमा चाहता हूँ। क्षमा नहीं लेते तो भूलें होती रहेंगी। गोया अपने सिर पर पाप चढ़ाते रहते हो। बाप तो समझाते हैं कल्प-कल्पान्तर के लिए अपने पद को भ्रष्ट न करो। अगर अभी ऊंच पद नहीं बनायेंगे तो कल्प-कल्पान्तर ऐसा हाल होगा। यह नॉलेज है। बाबा जानता है कल्प पहले मुआफ़िक राजाई स्थापन हो रही है। बापदादा जास्ती समझ सकते हैं। यह फिर भी मुरब्बी बच्चा है। माताओं की महिमा बढ़ानी है, माताओं को आगे रखा जाता है। गोपों को समझाते हैं उनको आगे ले आओ। गोप भी बहुत सर्विस कर सकते हैं। चित्र लेकर समझाओ – ऊंच ते ऊंच यह भगवान् है। फिर है त्रिमूर्ति – ब्रहमा-विष्णु-शंकर। उनमें भी ऊंच कौन है, किसका नाम है? सब कहेंगे प्रजापिता ब्रह्मा, जिसके द्वारा वर्सा मिलता है। शंकर वा विष्णु को पिता नहीं कहेंगे। उनसे कोई वर्सा नहीं मिलता है। प्रजापिता ब्रह्मा उनको कहा जाता है। उनसे क्या वर्सा मिलता है? ब्रह्मा है शिवबाबा का बच्चा। शिवबाबा है ज्ञान का सागर, हेविन स्थापन करने वाला। तो जरूर हेविन के लिए शिक्षा मिलती है। यह राजयोग के लिए मत है। ब्रह्मा द्वारा बाप श्रीमत देते हैं। यह है देवता बनने के लिए। ब्रह्माकुमारी सो श्री लक्ष्मी गॉडेज आफ वेल्थ। वह ब्राह्मण, वह देवी-देवता। निराकारी दुनिया में सब आत्मायें हैं। बच्चों को समझाते तो बहुत हैं, परन्तु समझने वाले कोई समझें। मनुष्य तो ब्लाइन्ड फेथ से सन्यासी गुरू के फालोअर्स बनते हैं। उनसे क्या मिलेगा, यह भी नहीं जानते हैं। टीचर तो फिर भी जानते हैं कि पदवी पायेंगे। बाकी जिसके फालोअर्स बनते हैं उनसे क्या प्राप्ति है, कुछ भी नहीं जानते। यह है अन्धश्रद्धा, फालोअर्स तो है ही नहीं। न वह बनाते और न तुम उनके जैसा बनते हो। एम आब्जेक्ट क्या है – कुछ भी नहीं जानते। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संग दोष से सदा बचे रहना है। सच्ची पढ़ाई पढ़कर सच्ची कमाई का स्टॉक जमा करना है।

2) कदम-कदम पर बाबा की श्रीमत पर चलेंगे – यह अपने साथ प्रण करना है।

वरदान:- एकव्रता के राज़ को जान वरदाता को राज़ी करने वाले सर्व सिद्धि स्वरूप भव
वरदाता बाप के पास अखुट वरदान हैं जो जितना लेने चाहे खुला भण्डार है। ऐसे खुले भण्डार से कई बच्चे सम्पन्न बनते हैं और कोई यथा-शक्ति सम्पन्न बनते हैं। सबसे ज्यादा झोली भरकर देने में भोलानाथ वरदाता रूप ही है, सिर्फ उसको राज़ी करने की विधि को जान लो तो सर्व सिद्धियां प्राप्त हो जायेंगी। वरदाता को एक शब्द सबसे प्रिय लगता है – एक-व्रता। संकल्प, स्वप्न में भी दूजा-व्रता न हो। वृत्ति में रहे मेरा तो एक दूसरा न कोई, जिसने इस राज़ को जाना, उसकी झोली वरदानों से भरपूर रहती है।
स्लोगन:- मन्सा और वाचा दोनों सेवायें साथ-साथ करो तो डबल फल प्राप्त होता रहेगा।
Font Resize