daily murli 7 august

TODAY MURLI 7 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 August 2020

07/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat and show everyone the way to attain liberation and liberation-in-life. Continue to do this business throughout the day.
Question: What subtle things has the Father told you which you have to understand very clearly?
Answer: 1) The golden age is the land of immortality. There, a soul leaves one costume and takes another. However, there is no mention of death, and this is why that is not called the land of death. 2) Shiv Baba’s creation is unlimited, whereas only you Brahmins are the creation of Brahma at this time. One can say “Trimurti Shiva” but not “Trimurti Brahma”. The Father has explained all of these subtle things to you. Think about all of these things and prepare your own food for your intellect.

Om shanti. Trimurti God Shiva speaks. Those people speak of Trimurti Brahma. The Father says: Trimurti God Shiva speaks. It is not said: Trimurti God Brahma speaks. You can say: Trimurti God Shiva speaks. Those people have mixed Shiva and Shankar together. This is very clear. It is not Trimurti Brahma, but Trimurti God Shiva who speaks. People say that when Shankar opens his eye, destruction takes place. All of that has to be understood with the intellect. Only the three have a main part. Brahma and Vishnu have a big part of 84 births. You have understood the meaning of Vishnu and Prajapita Brahma. Only these three have parts. The name “Brahma” has also been remembered as Adi Dev and Adam. There is a temple to Prajapita. This is the final and 84th birth of Vishnu, that is, of Krishna, who is now named Brahma. Brahma and Vishnu have to be clarified. Brahma is said to have been adopted. Both of them are children of Shiva. Actually, there is only one child. If you look at it, Brahma is the child of Shiva. They are Bap and Dada. There is no mention of Vishnu. Shiv Baba is carrying out establishment through Prajapita Brahma, not through Vishnu. Shiv Baba has children and Brahma Baba also has children, but you cannot say that Vishnu has children, nor can Lakshmi and Narayan have many children. This is food for the intellect. You have to prepare your own food. The longest part can be said to be Vishnu’s. The variety-form image of 84 births that they show belongs to Vishnu, not Brahma. The variety-form image that is created is of Vishnu. Although they mention Prajapita Brahma’s name first, he only has a short part. This is why the variety-form image that is shown is Vishnu’s. Even the four-armed image they have created is of Vishnu. In fact, those ornaments belong to you. These matters have to be understood. No human beings can explain this. The Father continues to explain to you in many new ways. The Father says: To say “Trimurti God Shiva speaks” is right, is it not? Vishnu, Brahma and Shiva: in this, only Prajapita Brahma is the child. Vishnu would not be called the child. Although they speak of creation, the creation would be of Brahma, would it not? The creation then takes in different names and forms. That One’s part is the main one. Brahma’s part at this time is very small. For how long does Vishnu’s kingdom continue? Shiv Baba is the Seed of the whole tree. His creation are called saligrams. Brahma’s creation are called Brahmins. Brahma’s creation isn’t as large as Shiva’s. Shiva’s creation is very large; all souls are His children. Only you Brahmins are Brahma’s creation. You become limited, do you not? Shiv Baba’s creation is of all souls; it is unlimited. He benefits an unlimited number of souls. He establishes heaven through Brahma. You Brahmins then go and reside in heaven. No one else can be called residents of heaven. Everyone else becomes a resident of Nirvana or the land of peace. The highest service is Shiv Baba’s: He takes all souls back with Him. Each one’s part is separate. Shiv Baba says: My part too is separate. I enable all of you to settle your accounts; I make you pure from impure and take you back home. You are making effort here in order to become pure. All others will settle their accounts at the time of settlement and return home. They will remain seated in the land of liberation. The world cycle has to continue to turn. You children become Brahmins through Brahma and then become deities. You Brahmins are doing service by following shrimat. You simply show human beings the path by saying: If you want to attain liberation and liberation-in-life, you can do that in this way. You have the key to both in your hands. You also know who will go into liberation and who will go into liberation-in-life. Just do this business throughout the day. When someone is running a grocery store, he has that in his intellect throughout the day. Your business is to know the beginning, the middle and the end of creation and to show others the way to liberation and liberation-in-life. Those who belong to this religion will emerge. There are many of other religions who don’t change their own religion. Some would take up the Buddhist religion because the deity religion has disappeared. Not a single person now says that he belongs to the original eternal deity religion. The pictures of the deities are very useful. Souls are imperishable; they never die. A soul sheds a body and takes another and continues to play his part. That world cannot be called the land of death. That is the land of immortality. Souls just change their costumes. These are very subtle matters and have to be understood. These are not gross things. When people marry, some receive everything retail and others receive things wholesale. Some give everything openly and others give everything locked in a suitcase. There are all types of people. You all receive a wholesale inheritance because all of you are brides. The Father is the Bridegroom. He decorates you children and gives you the wholesale sovereignty of the world. You become the masters of the world. The main thing is remembrance. Knowledge is very easy. When you think about it, it is just a question of remembering Alpha, but it is remembrance that instantly slips away. Generally, many say that they forget Baba. Whenever you explain to others, always use the word “remembrance”. The word “yoga” is wrong. A teacher remembers his students. The Father is the Supreme Soul. You souls are not supreme; you are impure. Now remember the Father! The teacher, the father and the guru are remembered. Gurus sit and relate scriptures and give mantras. Baba only has one mantra: Manmanabhav! What happens then? Madhyajibhav! You will then go to the land of Vishnu. Not all of you will become kings or queens. There are the king, the queen and the subjects. The main thing is the Trimurti. After Shiv Baba, there is Brahma who creates the human world; he creates Brahmins. He sits here and teaches Brahmins. This is something new, is it not? You Brahmins are brothers and sisters. Elderly people also say: We are brothers and sisters. This is something to be understood internally and not just to be said unnecessarily. God created the world through Prajapita Brahma and, since you are all children of Prajapita Brahma, all of you have become brothers and sisters. These things have to be understood. You children should have a lot of happiness about who it is that is teaching you. Shiv Baba, Trimurti Shiva. Brahma’s part lasts for a very short time. Vishnu’s part lasts for eight births in the golden-aged kingdom. Brahma has a part for just one birth. Therefore, Vishnu’s part is said to be longer. Trimurti Shiva is the main One. Then there is the part of Brahma who makes you children into the masters of the land of Vishnu. You Brahmins are created through Brahma. You then become deities. Therefore, this one is your spiritual father. This father in whom you now believe only exists for a short time. He is called Adi Dev, Adam and Eve. How could the world be created without him? There are Adi Dev and Adi Devi. The part of Brahma only exists at the confluence age. The deities’ parts last a lot longer. The deities are said to exist in only the golden age. In the silver age they are called warriors. These points you receive are very deep. You can’t speak about all of them at the same time. They speak of Trimurti Brahma; they have removed Shiva. We speak of Trimurti Shiva. All of those pictures etc. belong to the path of devotion. People are created through Brahma. You are becoming deities. At the time of destruction there are natural calamities. Destruction has to take place; after the iron age there will be the golden age. All of these bodies are going to be destroyed. Everything has to happen in a practical way. It doesn’t happen just by him opening his eye. At the time that heaven disappears, there are also earthquakes etc. Is it that Shankar blinks his eye at that time? It is remembered that Dwaraka and Lanka went beneath the water. The Father now explains: I have come to change those with stone intellects into those with divine intellects. People call out: O Purifier, come! Come and purify the world. However, they don’t understand that it is now the iron age and that the golden age will come after that. You children should dance in happiness. When a barrister passes his exams, he has thoughts inside such as: Now I will earn money and build a house. I will do this. You are now earning a true income. In heaven everything you receive is new. Just think about what the Somnath Temple would be like! There wouldn’t be just one temple. The temple is now 2500 years old. It would have taken time to build it. They would have worshipped in that temple, and it would then have been lootedIt wouldn’t have been looted as soon as it was built. There would have been many temples. They built temples in order to perform worship. You know that, by remembering the Father, you will go to the golden age. You souls will become pure. You do have to make effort. Nothing works without effort being made. “Liberation-in-life in a second” has been remembered. However, one cannot receive it just like that; it is understood that if you become a child, you definitely do receive it. You are now making effort to go to the land of liberation. You have to stay in remembrance of the Father. Day by day, the Father is refining the intellects of you children. The Father says: I tell you very deep things. Earlier, you were not told that souls are points and that the Supreme Soul is also a point. You might ask why you were not told that earlier. It was not in the drama. If that had been told to you in the beginning, you wouldn’t have understood anything. Everything is explained to you gradually. This is the kingdom of Ravan. Everyone becomes body conscious in the kingdom of Ravan. Everyone in the golden age is soul conscious: they know themselves to be souls. When their bodies become fully mature, they understand that they have to renounce them and take other small ones. A soul first has a small body which then grows. Everyone here is a different age. Some experience untimely death. Some live to the age of 125. So the Father explains: You should have a lot of happiness about receiving your inheritance from the Father. To have a pure marriage is not something to be happy about; it is in fact a weakness. If a girl says that she wants to remain pure, no one can force her. However, when she has little knowledge, she would be afraid. If a young girl is beaten badly, she can report it to the police who would then deal with the case. When people kill animals, a case is brought against them and they are punished. No one can beat you children. No one can beat kumars either. They can earn their own money; they can earn their own livelihood. The stomach doesn’t need a lot. One person’s stomach only needs four to five rupees whereas someone else’s needs 400 to 500 rupees. When some people have a lot of money they become greedy. The poor don’t even have money, so they are not greedy. They are happy with the dry chappatis they have. You children should not give too much importance to food. You shouldn’t be too interested in eating good things. You know that there is nothing you will not receive there. You receive an unlimited kingdom and unlimited happiness. There are no illnesses etc. there. You have healthwealth and happiness; you have everything there. You remain very well there even in old age. You have great happiness; there is no type of difficulty. The subjects too are like that. However, don’t think that it is fine if you just become a subject. In that case, it would be like the natives here. If you want to become the sun-dynasty Lakshmi and Narayan, you also have to make that much effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We, the new creation of Brahma, are brothers and sisters; this has to be understood internally. There is no need to speak about it to others. Always maintain the happiness that Shiv Baba is teaching you.
  2. Don’t give too much importance to food and drink. Renounce greed and remember the happiness of the unlimited sovereignty.
Blessing: May you become a conqueror of Maya and a conqueror of attachment by divorcing yourself from all relationships with Maya and making a deal of having all relationships with the Father.
Now, cancel any old deals in your awareness and become single. You may remain co-operative with one another, but not as companions. Make the One your Companion and divorceMaya and all her relationships. You will then remain a victorious conqueror of Maya and a conqueror of attachment. If there is the slightest attachment to anyone, then, instead of becoming an intense effort-maker, you will just become an effort-maker. Therefore, no matter what happens, continue to dance in happiness. “Death to the prey and happiness for the hunter”. This is known as being a destroyer of attachment. Those who are such destroyers of attachment become beads in the rosary of victory.
Slogan: Increase the sparkle of the diamond with the speciality of truth.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – श्रीमत पर चल सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति पाने का रास्ता बताओ, सारा दिन यही धन्धा करते रहो”
प्रश्नः- बाप ने कौन-सी सूक्ष्म बातें सुनाई हैं जो बहुत समझने की हैं?
उत्तर:- सतयुग अमरलोक है, वहाँ आत्मा एक चोला बदल दूसरा लेती है लेकिन मृत्यु का नाम नहीं इसलिए उसे मृत्युलोक नहीं कहा जाता। 2. शिवबाबा की बेहद रचना है, ब्रह्मा की रचना इस समय सिर्फ तुम ब्राह्मण हो। त्रिमूर्ति शिव कहेंगे, त्रिमूर्ति ब्रह्मा नहीं। यह सब बहुत सूक्ष्म बातें बाप ने सुनाई हैं। ऐसी-ऐसी बातों पर विचार कर बुद्धि के लिए स्वयं ही भोजन तैयार करना है।

ओम् शान्ति। त्रिमूर्ति शिव भगवानुवाच। अब वो लोग त्रिमूर्ति ब्रह्मा कहते हैं। बाप कहते हैं – त्रिमूर्ति शिव भगवानुवाच। त्रिमूर्ति ब्रह्मा भगवानुवाच नहीं कहते। तुम त्रिमूर्ति शिव भगवानुवाच कह सकते हो। वो लोग तो शिव-शंकर कह मिला देते हैं। यह तो सीधा है। त्रिमूर्ति ब्रह्मा के बदले त्रिमूर्ति शिव भगवानुवाच। मनुष्य तो कह देते – शंकर आंख खोलते हैं तो विनाश हो जाता है। यह सब बुद्धि से काम लिया जाता है। तीन का ही मुख्य पार्ट है। ब्रह्मा और विष्णु का तो बड़ा पार्ट है 84 जन्मों का। विष्णु का और प्रजापिता ब्रह्मा का अर्थ भी समझा है, पार्ट है इन तीन का। ब्रह्मा का तो नाम गाया हुआ है आदि देव, एडम। प्रजापिता का मन्दिर भी है। यह है विष्णु का अथवा कृष्ण का अन्तिम 84 वां जन्म, जिसका नाम ब्रह्मा रखा है। सिद्ध तो करना ही है – ब्रह्मा और विष्णु। अब ब्रह्मा को तो एडाप्टेड कहेंगे। यह दोनों बच्चे हैं शिव के। वास्तव में बच्चा एक है। हिसाब करेंगे तो ब्रह्मा है शिव का बच्चा। बाप और दादा। विष्णु का नाम ही नहीं आता। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा स्थापना कर रहे हैं। विष्णु द्वारा स्थापना नहीं कराते। शिव के भी बच्चे हैं, ब्रह्मा के भी बच्चे हैं। विष्णु के बच्चे नहीं कह सकते। न लक्ष्मी-नारायण को ही बहुत बच्चे हो सकते हैं। यह है बुद्धि के लिए भोजन। आपेही भोजन बनाना चाहिए। सबसे जास्ती पार्ट कहेंगे विष्णु का। 84 जन्मों का विराट रूप भी विष्णु का दिखाते हैं, न कि ब्रह्मा का। विराट रूप विष्णु का ही बनाते हैं क्योंकि पहले-पहले प्रजापिता ब्रह्मा का नाम धरते हैं। ब्रह्मा का तो बहुत थोड़ा पार्ट है इसलिए विराट रूप विष्णु का दिखाते हैं। चतुर्भुज भी विष्णु का बना देते। वास्तव में यह अलंकार तो तुम्हारे हैं। यह भी बड़ी समझने की बातें हैं। कोई मनुष्य समझा न सके। बाप नये-नये तरीके से समझाते रहते हैं। बाप कहते हैं त्रिमूर्ति शिव भगवानुवाच राइट है ना। विष्णु, ब्रह्मा और शिव। इसमें भी प्रजापिता ब्रह्मा ही बच्चा है। विष्णु को बच्चा नहीं कहेंगे। भल क्रियेशन कहते हैं परन्तु रचना तो ब्रह्मा की होगी ना। जो फिर भिन्न नाम रूप लेती है। मुख्य पार्ट तो उनका है। ब्रह्मा का पार्ट भी बहुत थोड़ा है इस समय का। विष्णु का कितना समय राज्य है! सारे झाड़ का बीज रूप है शिवबाबा। उनकी रचना को सालिग्राम कहेंगे। ब्रह्मा की रचना को ब्राह्मण-ब्राह्मणियां कहेंगे। अब जितनी शिव की रचना है उतनी ब्रह्मा की नहीं। शिव की रचना तो बहुत है। सभी आत्मायें उनकी औलाद हैं। ब्रह्मा की रचना तो सिर्फ तुम ब्राह्मण ही बनते हो। हद में आ गये ना। शिवबाबा की है बेहद की रचना – सभी आत्मायें। बेहद की आत्माओं का कल्याण करते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना करते हैं। तुम ब्राह्मण ही जाकर स्वर्गवासी बनेंगे। और तो कोई को स्वर्गवासी नहीं कहेंगे, निर्वाणवासी अथवा शान्तिधाम वासी तो सब बनते हैं। सबसे ऊंच सर्विस शिवबाबा की होती है। सभी आत्माओं को ले जाते हैं। सभी का पार्ट अलग-अलग है। शिवबाबा भी कहते हैं मेरा पार्ट अलग है। सबका हिसाब-किताब चुक्तू कराए तुमको पतित से पावन बनाए ले जाता हूँ। तुम यहाँ मेहनत कर रहे हो पावन बनने के लिए। दूसरे सब कयामत के समय हिसाब-किताब चुक्तू कर जायेंगे। फिर मुक्तिधाम में बैठे रहेंगे। सृष्टि का चक्र तो फिरना है।

तुम बच्चे ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण बन फिर देवता बन जाते हो। तुम ब्राह्मण श्रीमत पर सेवा करते हो। सिर्फ मनुष्यों को रास्ता बताते हो – मुक्ति और जीवनमुक्ति को पाना है तो ऐसे पा सकते हो। दोनों चाबी हाथ में हैं। यह भी जानते हो कौन-कौन मुक्ति में, कौन-कौन जीवनमुक्ति में जायेंगे। तुम्हारा सारा दिन यही धंधा है। कोई अनाज आदि का धन्धा करते हैं तो बुद्धि में सारा दिन वही रहता है। तुम्हारा धन्धा है रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानना और किसको मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता बताना। जो इस धर्म के होंगे वह निकल आयेंगे। ऐसे बहुत धर्म के हैं जो बदल नहीं सकते। ऐसे नहीं कि फीचर्स बदल जाते हैं। सिर्फ धर्म को मान लेते हैं। कई बौद्ध धर्म को मानते हैं क्योंकि देवी-देवता धर्म तो प्राय: लोप है ना। एक भी ऐसा नहीं जो कहे हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। देवताओं के चित्र काम में आते हैं, आत्मा तो अविनाशी है, वह कभी मरती नहीं। एक शरीर छोड़ फिर दूसरा लेकर पार्ट बजाती है। उनको मृत्युलोक नहीं कहा जाता। वह है ही अमरलोक। चोला सिर्फ बदलती है। यह बातें बड़ी सूक्ष्म समझने की हैं। मुट्टा (थोक अथवा सारा) नहीं है। जैसे शादी होती है तो किनको रेज़गारी, किनको मुट्टा देते हैं। कोई सब दिखाकर देते हैं, कोई बन्द पेटी ही देते हैं। किस्म-किस्म के होते हैं। तुमको तो वर्सा मिलता है मुट्टा, क्योंकि तुम सब ब्राइड्स हो। बाप है ब्राइडग्रुम। तुम बच्चों को श्रृंगार कर विश्व की बादशाही मुट्टे में देते हैं। विश्व का मालिक तुम बनते हो।

मुख्य बात है याद की। ज्ञान तो बहुत सहज है। भल है तो सिर्फ अल्फ को याद करना। परन्तु विचार किया जाता है याद ही झट खिसक जाती है। बहुत करके कहते हैं बाबा याद भूल जाती है। तुम किसको भी समझाओ तो हमेशा याद अक्षर बोलो। योग अक्षर रांग है। टीचर को स्टूडेन्ट की याद रहती है। फादर है सुप्रीम सोल। तुम आत्मा सुप्रीम नहीं हो। तुम हो पतित। अब बाप को याद करो। टीचर को, बाप को, गुरू को याद किया जाता है। गुरू लोग बैठ शास्त्र सुनायेंगे, मंत्र देंगे। बाबा का मंत्र एक ही है – मनमनाभव। फिर क्या होगा? मध्याजी भव। तुम विष्णुपुरी में चले जायेंगे। तुम सब तो राजा-रानी नहीं बनेंगे। राजा-रानी और प्रजा होती है। तो मुख्य है त्रिमूर्ति। शिवबाबा के बाद है ब्रह्मा जो फिर मनुष्य सृष्टि अर्थात् ब्राह्मण रचते हैं। ब्राह्मणों को बैठ फिर पढ़ाते हैं। यह नई बात है ना। तुम ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ बहन-भाई ठहरे। बुढ़े भी कहेंगे हम भाई-बहन हैं। यह अन्दर में समझना है। किसको फालतू ऐसे कहना नहीं है। भगवान ने प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रची तो भाई-बहन हुए ना। जबकि एक प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे हैं, यह समझने की बातें हैं। तुम बच्चों को तो बड़ी खुशी होनी चाहिए – हमको पढ़ाते कौन हैं? शिवबाबा। त्रिमूर्ति शिव। ब्रह्मा का भी बहुत थोड़ा समय पार्ट है। विष्णु का सतयुगी राजधानी में 8 जन्म पार्ट चलता है। ब्रह्मा का तो एक ही जन्म का पार्ट है। विष्णु का पार्ट बड़ा कहेंगे। त्रिमूर्ति शिव है मुख्य। फिर आता है ब्रह्मा का पार्ट जो तुम बच्चों को विष्णुपुरी का मालिक बनाते हैं। ब्रह्मा से ब्राह्मण सो फिर देवता बनते हैं। तो यह हो गया अलौकिक फादर। थोड़ा समय यह फादर है जिसको अब मानते हैं। आदि देव, आदम और बीबी। इनके बिगर सृष्टि कैसे रचेंगे। आदि देव और आदि देवी है ना। ब्रह्मा का पार्ट भी सिर्फ संगम समय का है। देवताओं का पार्ट तो फिर भी बहुत चलता है। देवतायें भी सिर्फ सतयुग में कहेंगे। त्रेता में क्षत्रिय कहा जाता। यह बड़ी गुह्य-गुह्य प्वाइंट्स मिलती हैं। सब तो एक ही समय वर्णन नहीं कर सकते। वह त्रिमूर्ति ब्रह्मा कहते हैं। शिव को उड़ा दिया है। हम फिर त्रिमूर्ति शिव कहते हैं। यह चित्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग के। प्रजा रचते हैं ब्रह्मा द्वारा फिर तुम देवता बनते हो। विनाश के समय नैचुरल कैलेमिटीज भी आती है। विनाश तो होना ही है, कलियुग के बाद फिर सतयुग होगा। इतने सब शरीरों का विनाश तो होना ही है। सब कुछ प्रैक्टिकल में चाहिए ना। सिर्फ आंख खोलने से थोड़ेही हो सकता। जब स्वर्ग गुम होता है तो उस समय भी अर्थक्वेक आदि होती हैं। तो क्या उस समय भी शंकर आंख ऐसे मीचते हैं। गाते हैं ना द्वारिका अथवा लंका पानी के नीचे चली गई।

अब बाप समझाते हैं – मैं आया हूँ पत्थरबुद्धियों को पारसबुद्धि बनाने। मनुष्य पुकारते हैं – हे पतित-पावन आओ, आकर पावन दुनिया बनाओ। परन्तु यह नहीं समझते हैं कि अभी कलियुग है इसके बाद सतयुग आयेगा। तुम बच्चों को खुशी में नाचना चाहिए। बैरिस्टर आदि इम्तहान पास करते हैं तो अन्दर में ख्याल करते हैं ना – हम पैसे कमायेंगे, फिर मकान बनायेंगे। यह करेंगे। तो तुम अभी सच्ची कमाई कर रहे हो। स्वर्ग में तुमको सब कुछ नया माल मिलेगा। ख्याल करो सोमनाथ का मन्दिर क्या था! एक मन्दिर तो नहीं होगा। उस मन्दिर को 2500 वर्ष हुआ। बनाने में टाइम तो लगा होगा। पूजा की होगी उसके बाद फिर वह लूटकर ले गये। फौरन तो नहीं आये होंगे। बहुत मन्दिर होंगे। पूजा के लिए बैठ मन्दिर बनाये हैं। अभी तुम जानते हो बाप को याद करते-करते हम गोल्डन एज में चले जायेंगे। आत्मा पवित्र बन जायेगी। मेहनत करनी पड़ती है। मेहनत बिगर काम नहीं चलेगा। गाया भी जाता है – सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। परन्तु ऐसे थोड़ेही मिल जाती है, यह समझा जाता है – बच्चे बनेंगे तो मिलेगी जरूर। तुम अभी मेहनत कर रहे हो मुक्तिधाम में जाने के लिए। बाप की याद में रहना पड़ता है। दिन-प्रतिदिन बाप तुम बच्चों को रिफाइन बुद्धि बनाते हैं। बाप कहते हैं तुमको बहुत-बहुत गुह्य बातें सुनाता हूँ। आगे थोड़ेही यह सुनाया था कि आत्मा भी बिन्दी है, परमात्मा भी बिन्दी है। कहेंगे पहले क्यों नहीं यह बताया। ड्रामा में नहीं था। पहले ही तुमको यह सुनायें तो तुम समझ न सको। धीरे-धीरे समझाते रहते हैं। यह है रावण राज्य। रावण राज्य में सब देह-अभिमानी बन जाते हैं। सतयुग में होते हैं आत्म-अभिमानी। अपने को आत्मा जानते हैं। हमारा शरीर बड़ा हुआ है, अब यह छोड़कर फिर छोटा लेना है। आत्मा का शरीर पहले छोटा होता है फिर बड़ा होता है। यहाँ तो कोई की कितनी आयु, कोई की कितनी। कोई की अकाले मृत्यु हो जाती है। कोई-कोई की 125 वर्ष की भी आयु होती है। तो बाप समझाते हैं तुमको खुशी बहुत होनी चाहिए – बाप से वर्सा लेने की। गन्धर्वी विवाह किया यह कोई खुशी की बात नहीं, यह तो कमज़ोरी है। कुमारी अगर कहे हम पवित्र रहना चाहते हैं तो कोई मार थोड़ेही सकते हैं। ज्ञान कम है तो डरते हैं। छोटी कुमारी को भी अगर कोई मारे, खून आदि निकले तो पुलिस में रिपोर्ट करे तो उसकी भी सज़ा मिल सकती है। जानवर को भी अगर कोई मारते हैं तो उन पर केस होता है, दण्ड पड़ता है। तुम बच्चों को भी मार नहीं सकते। कुमार को भी मार नहीं सकते। वह तो अपना कमा सकते हैं। शरीर निर्वाह कर सकते हैं। पेट कोई जास्ती नहीं खाता है – एक मनुष्य का पेट 4-5 रूपया, एक मनुष्य का पेट 400-500 रूपया। पैसा बहुत है तो हबच हो जाती है। गरीबों को पैसे ही नहीं तो हबच भी नहीं। वह सूखी रोटी में ही खुश होते हैं। बच्चों को जास्ती खान-पान के हंगामें में भी नहीं जाना चाहिए। खाने का शौक नहीं रहना चाहिए।

तुम जानते हो वहाँ हमें क्या नहीं मिलेगा! बेहद की बादशाही, बेहद का सुख मिलता है। वहाँ कोई बीमारी आदि होती नहीं। हेल्थ वेल्थ हैप्पीनेस सब रहता है। बुढ़ापा भी वहाँ बहुत अच्छा रहता। खुशी रहती है। कोई प्रकार की तकलीफ नहीं रहती है। प्रजा भी ऐसी बनती है। परन्तु ऐसे भी नहीं – अच्छा, प्रजा तो प्रजा ही सही। फिर तो ऐसे होंगे जैसे यहाँ के भील। सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण बनना है तो फिर इतना पुरूषार्थ करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम ब्रह्मा की नई रचना आपस में भाई-बहन हैं, यह अन्दर समझना है किसी को कहने की दरकार नहीं। सदा इसी खुशी में रहना है कि हमें शिवबाबा पढ़ाते हैं।

2) खान-पान के हंगामें में जास्ती नहीं जाना है। हबच (लालच) छोड़ बेहद बादशाही के सुखों को याद करना है।

वरदान:- माया के सम्बन्धों को डायवोर्स दे बाप के सम्बन्ध से सौदा करने वाले मायाजीत, मोहजीत भव
अब स्मृति से पुराना सौदा कैन्सिल कर सिंगल बनो। आपस में एक दो के सहयोगी भल रहो लेकिन कम्पेनियन नहीं। कम्पेनियन एक को बनाओ तो माया के सम्बन्धों से डायवोर्स हो जायेगा। मायाजीत, मोहजीत विजयी रहेंगे। अगर जरा भी किसी में मोह होगा तो तीव्र पुरूषार्थी के बजाए पुरूषार्थी बन जायेंगे इसलिए क्या भी हो, कुछ भी हो खुशी में नाचते रहो, मिरूआ मौत मलूका शिकार – इसको कहते हैं नष्टोमोहा। ऐसा नष्टोमोहा रहने वाले ही विजय माला के दाने बनते हैं।
स्लोगन:- सत्यता की विशेषता से डायमण्ड की चमक को बढ़ाओ।

TODAY MURLI 7 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 6 August 2019:- Click Here

07/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remain in a conscious state and remember the Father. To go into the stage of nothingness or to sleep is not yoga.
Question: Why are you not allowed to sit here with your eyes closed?
Answer: If you sit with your eyes closed, a thief can steal all the goods in your shop. Maya, the thief, will not allow your intellect to imbibe anything. If you sit in yoga with your eyes closed, you will fall asleep and you will not know anything. Therefore, sit with your eyes open. While doing your work, remember the Father with your intellect. There is no question of hatha yoga in this.

Om shanti. The spiritual Father tells you spiritual children: This one is also a child. All bodily beings are His children. So, the spiritual Father says to souls: The main thing is the soul. Understand this very well. When you are sitting here in front, you should not detach yourself from your body and disappear. To detach yourself from the body and disappear is not the stage of the pilgrimage of remembrance. You have to sit here alert. As you walk and move around or sit, consider yourselves to be souls and remember the Father. The Father does not tell you to become unconscious as you sit here. There are many who disappear while sitting here. You have to sit here and remain alert. You also have to become pure. You will not be able to imbibe knowledge without having purity. You will neither be able to bring benefit to anyone nor will you be able to tell this to others. Those who do not remain pure themselves but tell others to do so are like pundits. You must not consider yourself to be clever. Otherwise, your conscience will bite you. Don’t think that you can close your eyes and go into a state of nothingness. That is not the stage of remembrance. Here, you have to remain in a conscious state and remember the Father. To fall asleep is not remembrance. Many points are explained to you children. It is shown in the scriptures that they go into the seventh world (stage of consciousness) and they are not aware of this world at all. You know about the world; this is a dirty world. No one knows the Father. If they were to know the Father, they would also know the cycle of the world. The Father tells you how this cycle turns and how human beings take rebirth. In the golden age, even though you become old, your face does not become wrinkled. Sannyasis do hatha yoga. They close their eyes and, while sitting in caves, they become old and wrinkled. The Father tells you: While living at home with your family, you have to remain alert. To go into the stage of nothingness is not really a stage. You have to carry on with your business etc. and also look after your household. You must not go into the stage of nothingness. While doing your work, remember the Father with your intellect. When you do your work, you surely do it with your eyes open. Continue to attend to your business etc., but let your intellects be in yoga with the Father. You must not become careless about this. If you closed your eyes while sitting in your shop, someone would steal your stock and you would not even know. That stage is not accurate. To become detached from one’s body is the practice of hatha yogis. It is those with occult power who do that. The Father sits here and explains to you very clearly; you must not close your eyes for this. The Father says: You must now forget all your friends and relatives that you have been remembering, but you must remember the one Father. Without having the pilgrimage of remembrance, your sins cannot be cut away. When they take bhog to the subtle region, they get lost. What happens? For as long as they are there, their sins cannot be absolved. They can neither remember Shiv Baba nor can they hear Baba’s murli, and so there is a loss. However, this is fixed in the drama and this is why they go there. They then come down and listen to the murli. This is why Baba says: Go and return quickly! Don’t stay there! Baba put a stop to all of those entertaining games. To go around in this way is like wandering aimlessly. There is a great deal of wandering and wailing on the path of devotion, because it is the path of darkness. Meera used to go to Paradise in trance. That was neither yoga nor study. Did she attain salvation through that? Did she become worthy of going to heaven? Were her sins of many births cut away? Absolutely not! The sins of many births can only be cut away by having remembrance of the Father. There is no benefit in having visions etc. That is simply devotion. It is neither remembrance nor knowledge. There is no one on the path of devotion who teaches these things and so they are not able to attain salvation, no matter how many visions they may have. In the beginning, children used to go into trance by themselves. Mama and Baba did not go into trance. In the beginning, Baba simply had a vision of establishment and destruction. Nothing happened after that. I do not send anyone up there. Yes, I (Brahma) sit them down and say: “Baba, pull the thread of this one,” and if it is in the drama, her thread will be pulled. Otherwise, it won’t be. Many receive visions. Many used to have visions in the beginning and many will have visions at the end. It will be death for the prey and victory for the hunter. There are countless human beings and they will all leave their bodies here. No one will take his body or anything else to the golden age or to the land of silence. There are countless human beings. All are to be destroyed. The one original, eternal, deity religion is now being established through Brahma. You daughters go to the villages and do so much service. You say to them: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Sannyasis don’t know how to teach Raj Yoga. Who, apart from the Father, can teach Raj Yoga? The Father is now teaching you children Raj Yoga. You will then receive your kingdom and you will remain in limitless happiness. There will be no need to have remembrance there; there will not be the slightest trace of sorrow. Your lifespan will be long and your bodies will be free from disease. Here, there is a great deal of sorrow. It is not that the Father has created this play to cause you sorrow. This is an original and eternal play of happiness and sorrow, victory and defeat. Sannyasis do not know these things and so how could they explain anything? They study the scriptures etc. of the path of devotion. You are each told: Consider yourself to be a soul and remember the Father. Those sannyasis consider themselves to be the soul and they remember the brahm element. They consider the brahm element to be the Supreme Soul. They only have knowledge of the brahm element. In fact, the brahm element is the place of residence, where you souls reside, but they say that they will merge into the element. Their knowledge is totally upside-down. Here, the unlimited Father teaches you children. They say that God will come after forty thousand years. That is called the darkness of ignorance. The Father says: I am the One who establishes the new world and who has the old world destroyed. I am carrying out the task of establishment; destruction is also standing ahead. Now, hurry up and become pure! Only then will you be able to go to the pure world. This is an old tamopradhan world; it is not the kingdom of Lakshmi and Narayan. Their kingdom existed in the new world; it no longer exists. They have continued to take rebirth. All sorts of things have been written in the scriptures. They have shown Krishna sitting in Arjuna’s horse chariot. It was not that Krishna was sitting inside Arjuna. Krishna was a bodily being. There was no question of a war etc. They have divided the armies of the Pandavas and the Kauravas. However, those things do not happen here. Those are the limitless scriptures of the path of devotion. They do not exist in the golden age. There, it is your kingdom, your reward of knowledge. There, there is nothing but happiness. The Father establishes the new world, and so there would definitely be happiness in the new world. Would the Father build an old home? The Father would build a new home. That world is called the satopradhan world. This world is now impure, tamopradhan. You are now sitting in the foreign kingdom of Ravan. Shiv Baba is called Rama. They make donations in the name of Rama, chanting, “Rama, Rama”. Now, there is a vast difference between Rama and Shiv Baba. Shiv Baba now tells you children: Remember Me alone. You now have to return to the place you came from. Until you remember the Father and become pure, you will not be able to return home. There are very few among you who remember the Father accurately. It is not a question of saying anything through your lips. On the path of devotion, people say, “Rama, Rama”, with their lips. If someone doesn’t chant this, they call him an atheist. They sing very loudly. As the tree grows, so the paraphernalia of the path of devotion also grows. The Seed is very tiny. You do not have anything nor do you make any sound. You are simply told to consider yourselves to be souls and remember Me. You do not have to say anything with your lips. Children remember their physical fathers with their intellects. They do not sit and say: Baba, Baba. You now understand who the Father of souls is. All souls are brothers. Souls do not have any other name. However, the names of bodies change. A soul is a soul and that One is the Supreme Soul. His name is Shiva. He does not have a body of His own. The Father says: If I had a body of My own, I would also have to take birth and rebirth. Who would then grant you salvation? People remember Me on the path of devotion. There are many images. You are now becoming residents of heaven from residents of hell. You have taken birth in hell but you will die in order to go to heaven. You have come here in order to go to heaven. Before a bridge etc. is constructed, they hold a foundation ceremony and then the bridge continues to be constructed. The Father has already performed the inauguration (foundation ceremony) of the establishment of heaven. Preparations are now taking place. Does it take time to build a building? Once the Government begins to build one, they are able to construct it within a month. Abroad you can buy ready-made homes. In heaven your intellects will be deep, subtle and satopradhan. Scientists have very clever intellects. They will build things very quickly. There, the walls will be studded with jewels. Nowadays, they make imitation jewellery very quickly and it sparkles even more than the real thing. Nowadays, they also have machines to manufacture things very quickly. There, it does not take long to build a house. It takes time to clean everything. It is not that the golden city of Dwarika will rise from beneath the sea. Therefore, the Father says: Eat and drink, but simply remember the Father so that your sins can be absolved. There is no other method. You have been bathing in the Ganges for birth after birth, but no one has been able to attain liberation or liberation-in-life. Here, the Father shows you the way to become pure. The Father says: I am the Purifier. You called out: O Purifier, Baba come! Come and make us pure. When a drama comes to an end, all the actors as well as the creator appear on the stage; they all stand on the stage. The same thing happens here too. When all souls have come down, you will then start returning. You are not ready yet. You have not reached your karmateet stage and so how can destruction take place? The Father only comes in order to teach you for the new world. There, there is no death; you are conquering death. Who enables you to conquer death? The Death of all Deaths. He takes so many back with Him. You return in great happiness. The Father has now come to remove everyone’s sorrow. This is why people sing His praise: God, the Fatherliberate us from sorrow! Take us to the land of peace and the land of happiness! However, human beings don’t know that the Father is now creating heaven. When you go to heaven, the tree will be very small and expansion will then take place later. All the other religions now exist whereas that one religion does not exist. The name, form, kingdom etc. all change. To begin with, you had a double crown and you then became those with a single crown. When the Somnath Temple was built, there was so much wealth. That is the biggest temple and it was looted. The Father says: You are becoming multimillion times fortunate. Continue to remember the Father at every step and you will accumulate multimillions. You are able to earn so much income by remembering the Father. In that case, why do you forget to remember such a Father? The more you remember the Father and the more service you do, the higher the status you will claim. Many good children fall as they move along. If you dirty your face, all the income you have earned will be lost. You will lose a grand lottery. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While looking after your household, keep your intellect in yoga with the Father. Do not become careless and make mistakes. You have to bring benefit to yourself and others by imbibing purity.
  2. There is an income in the pilgrimage of remembrance and in this study. Trance is just wandering around: there is no benefit in that. To whatever extent possible, remain alert. Remember the Father and have your sins absolved.
Blessing: May you be a detached observer and find a solution to every problem by taking power from the Father.
You children know that the end will only come after extreme circumstances. When there is every type of upheaval, there will be conflict in the family, many problems in the mind and financial crisis. However, the Father is responsible for those who are the Father’s companions and are honest. At such a time, keep your mind with the Father and, you will be able to overcome everything with the power of decision making. Become a detached observer and by taking the Father’s power, you will easily be able to overcome all situations.
Slogan: Now, put aside all the supports and make preparations to return home.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 August 2019

To Read Murli 6 August 2019:- Click Here
07-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – चैतन्य अवस्था में रह बाप को याद करना है, सुन्न अवस्था में चले जाना या नींद करना – यह कोई योग नहीं है”
प्रश्नः- तुम्हें आंखे बन्द करके बैठने की मना क्यों की जाती है?
उत्तर:- अगर तुम आंख बन्द करके बैठेंगे तो दुकान का सारा सामान ही चोर चोरी करके ले जायेंगे। माया चोर बुद्धि में कुछ भी धारणा होने नहीं देगी। आंख बन्द करके योग में बैठेंगे तो नींद आ जायेगी। पता ही नहीं चलेगा इसलिए आंखे खोलकर बैठना है। कामकाज करते बुद्धि से बाप को याद करना है। इसमें हठयोग की बात नहीं है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप कहते हैं बच्चों को, यह भी बच्चा है ना। देहधारी सब बच्चे हैं। तो रूहानी बाप आत्माओं को कहते हैं, आत्मा ही मुख्य है। यह तो अच्छी रीति समझो। यहाँ जब सामने बैठते हो तो ऐसे नहीं शरीर से न्यारा हो गुम हो जाना है। शरीर से न्यारा हो गुम हो जाना, यह कोई याद के यात्रा की अवस्था नहीं है। यहाँ तो सुजाग हो बैठना है। चलते फिरते, उठते बैठते अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाप ऐसे नहीं कहते यहाँ बैठे बेहोश हो जाओ। ऐसे बहुत बैठे-बैठे गुम हो जाते हैं। तुम्हें तो सुजाग होकर बैठना है और फिर पवित्र भी बनना है। पवित्रता बिगर धारणा नहीं होगी, किसका कल्याण नहीं कर सकेंगे, किसको कह नहीं सकेंगे। खुद पवित्र रहते नहीं और दूसरे को कहते हैं, वह तो पण्डित हो गया। मिया मिट्ठू भी नहीं बनना है, फिर वह दिल अन्दर खाता रहेगा। ऐसे मत समझो हम सुन्न में चले जाते हैं। आंखे बन्द हो जाती हैं, यह कोई याद की अवस्था नहीं है, इसमें चैतन्य अवस्था में रह बाप को याद करना है। नींद करना कोई याद करना नहीं है। बच्चों को कई प्वाइंट्स समझाई जाती हैं। शास्त्रों में दिखाया गया है – सातवीं भूमिका में चले जाते हैं, उनको दुनिया का पता नहीं पड़ता है। तुमको तो दुनिया का पता है ना। यह छी-छी दुनिया है। बाप को कोई जानते नहीं हैं। अगर बाप को जानते तो सृष्टि चक्र को भी जान जाएं। बाप बतलाते हैं यह चक्र कैसे फिरता है। मनुष्य पुनर्जन्म कैसे लेते हैं। सतयुग में भल बड़ी आयु हो जाती तो भी बदसूरत नहीं होंगे। बाकी सन्यासियों का तो है हठयोग। आंखे बन्द करना, गुफाओं में बैठे-बैठे बदसूरत बन जाना….। तुमको तो बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते सुजाग रहना है। सुन्न में चले जाना, यह कोई अवस्था नहीं है। धन्धा आदि भी करना है, गृहस्थ व्यवहार भी सम्भालना है। सुन्न में नहीं जाना है। काम-काज करते बुद्धि से बाप को याद करना है। जरूर काम करेंगे, आंखे खोलकर करेंगे ना। धन्धा आदि सब कुछ करते रहो। बुद्धि योग बाप के साथ हो। इसमें गफलत नहीं करनी है। दुकान पर बैठे आंखे बन्द हो जायेगी तो कोई सामान ही ले जायेंगे और पता भी नहीं पड़ेगा। यह कोई अवस्था नहीं। हम देह से न्यारे हो जाते हैं, यह सब हठयोगियों की बातें हैं। रिद्धि सिद्धि वाले करते हैं। बाप तो अच्छी रीति बैठ समझाते हैं, इसमें आंखे नहीं बन्द करनी है।

बाप कहते हैं मित्र सम्बन्धियों को जो बैठ याद करते हो, वह सब भूल जाओ। एक बाप को याद करना है। सिवाए याद की यात्रा के पाप कट नहीं सकते। भोग ले जाते हैं, गुम हो जाते हैं सूक्ष्मवतन में। इसमें क्या होता है? जितना समय वहाँ हैं विकर्म विनाश हो न सकें। शिवबाबा को याद कर न सकें। न बाबा की वाणी सुन सकेंगे। तो घाटा पड़ जाता है। परन्तु यह ड्रामा में नूंध है इसलिए जाते हैं। फिर आकर मुरली सुनते हैं इसलिए बाबा कहते हैं जाओ, फौरन आओ, बैठो नहीं। खेलपाल करना बाबा ने बन्द कर दिया है। यह भी घूमना फिरना रुलना हुआ ना। भक्ति मार्ग में रुलना पिटना बहुत होता है क्योंकि अन्धियारा मार्ग है ना। मीरा ध्यान में वैकुण्ठ में चली जाती थी। वह योग व पढ़ाई थोड़ेही थी। क्या उसने सद्गति को पाया? स्वर्ग जाने लायक बनी? जन्म-जन्मान्तर के पाप कटे? बिल्कुल नहीं। जन्म-जन्मान्तर के पाप तो बाप की याद से ही कटते हैं। बाकी साक्षात्कार आदि से कोई फायदा नहीं होता। यह तो सिर्फ भक्ति है। न याद है, न ज्ञान है। भक्ति मार्ग में यह सिखलाने वाला कोई होता ही नहीं तो सद्गति को भी पाते नहीं। भल कितना भी साक्षात्कार हो, शुरू में तो बच्चियाँ आपेही चली जाती थी। मम्मा-बाबा थोड़ेही जाते थे। यह तो शुरू में बाबा को सिर्फ स्थापना और विनाश का साक्षात्कार हुआ। पीछे तो कुछ नहीं हुआ। हम किसको भी भेजते नहीं हैं। हाँ, बिठाकर कह देते बाबा इनकी रस्सी खींचो। वह भी ड्रामा में होगा तो रस्सी खींचेंगे, नहीं तो नहीं। साक्षात्कार तो ढेर होते हैं। जैसे शुरू में बहुत साक्षात्कार करते थे, पिछाड़ी में भी बहुत साक्षात्कार करेंगे, मिरूआ मौत मलूका शिकार….. इतने ढेर मनुष्य हैं, वह सब शरीर छोड़ देंगे। शरीर सहित कोई सतयुग में वा शान्तिधाम में नहीं जायेंगे। कितने ढेर मनुष्य हैं, सब विनाश को प्राप्त करेंगे। बाकी एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है ब्रह्मा द्वारा। तुम बच्चियाँ गांव-गांव में जाकर कितनी सर्विस करती हो। यही कहती हो कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। सन्यासी तो राजयोग सिखलाना जानते नहीं। बाप बिगर राजयोग सिखलावे कौन? तुम बच्चों को बाप अभी राजयोग सिखला रहे हैं। फिर राजाई मिल जाती है। तुम अपार सुखों में रहते हो। वहाँ तो फिर याद करने की दरकार ही नहीं। रिंचक भी दु:ख नहीं होता है। आयु भी बड़ी, काया भी निरोगी होती है। यहाँ कितने दु:ख हैं। ऐसे तो नहीं बाप ने दु:ख के लिए खेल रचा है। यह तो खेल सुख-दु:ख, हार-जीत का आदि अनादि है। इन सब बातों को सन्यासी जानते ही नहीं तो समझा कैसे सकते। वह तो भक्ति मार्ग के शास्त्र आदि पढ़ने वाले हैं। तुमको कहा जाता है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। वह सन्यासी फिर आत्मा समझ ब्रह्म को याद करते हैं। ब्रह्म को परमात्मा समझते हैं, ब्रह्म ज्ञानी हैं। वास्तव में ब्रह्म है रहने का स्थान। जहाँ तुम आत्मायें रहती हो वह फिर कहते हम उनमें लीन होंगे। उनका ज्ञान ही सारा उल्टा है। यहाँ तो बेहद का बाप तुम बच्चों को पढ़ाते हैं। वह कहते भगवान 40 हज़ार वर्ष बाद आयेगा, इसको कहा जाता है अज्ञान अन्धियारा। बाप कहते हैं नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश करने वाला तो मैं हूँ। मैं स्थापना कर रहा हूँ, विनाश भी सामने खड़ा है। अब जल्दी करो। पावन बनो तब ही पावन दुनिया में जायेंगे। यह तो पुरानी तमोप्रधान दुनिया है। लक्ष्मी-नारायण का राज्य थोड़ेही है। इनका राज्य नई दुनिया में था, अब नहीं है। यह पुनर्जन्म लेते आये हैं। शास्त्रों में तो क्या-क्या लिख दिया है। कृष्ण को दिखाया है अर्जुन के घोड़े गाड़ी में बैठा है। ऐसे नहीं कि अर्जुन के अन्दर कृष्ण बैठा है। कृष्ण तो देहधारी था ना, न कोई लड़ाई आदि की बात है। उन्होंने तो पाण्डवों और कौरवों का लश्कर अलग-अलग कर दिया है। यहाँ तो वह बात नहीं। यह भक्ति मार्ग के अथाह शास्त्र हैं। सतयुग में यह होते नहीं। वहाँ तो ज्ञान की प्रालब्ध राजधानी है। वहाँ सुख ही सुख है। बाप नई दुनिया स्थापन करते हैं तो जरूर नई दुनिया में सुख होगा ना। बाप कभी पुराना मकान बनाते हैं क्या! बाप तो नया मकान बनाते हैं, उस दुनिया को ही सतोप्रधान दुनिया कहा जाता है। अभी तो सब तमोप्रधान अपवित्र हैं, पराये रावण राज्य में बैठे हैं।

राम तो कहा जाता है शिवबाबा को, राम-राम कह राम नाम का दान देते हैं। अब कहाँ राम, कहाँ शिवबाबा। अब शिवबाबा तुम बच्चों को कहते हैं मामेकम् याद करो। जहाँ से आये हो वहाँ ही फिर जाना है, जब तक बाप को याद कर पवित्र नहीं बनेंगे तो वापिस भी जा नहीं सकेंगे। तुम्हारे में भी कोई विरले हैं जो अच्छी रीति बाप को याद करते हैं। मुख से तो कहने की बात नहीं। भक्ति में राम-राम मुख से कहते हैं। कोई नहीं कहेंगे तो समझेंगे यह नास्तिक हैं। कितना आवाज़ करके गाते हैं। जितना झाड़ बड़ा होता है, उतनी भक्ति की सामग्री बड़ी होती जाती है। बीज कितना छोटा होता है। तुमको कोई चीज़ नहीं, कोई आवाज़ नहीं। सिर्फ कहते हैं – अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। मुख से कहना भी नहीं है। लौकिक बाप को भी बच्चे बुद्धि से याद करते हैं। बाबा-बाबा बैठकर कहते थोड़ेही हैं। तुम अभी जानते हो आत्माओं का बाप कौन है। आत्मायें तो सब भाई-भाई हैं। आत्मा को और कोई नाम नहीं। बाकी शरीर का नाम बदलता है। आत्मा तो आत्मा ही है। वह भी परम आत्मा। उनका नाम है शिव। उनको अपना शरीर है नहीं। बाप कहते हैं मुझे भी अगर शरीर होता तो पुनर्जन्म में आना पड़ता। तुमको फिर सद्गति कौन देते? भक्ति मार्ग में मुझे याद करते हैं। अनेक चित्र हैं। अभी तुम नर्कवासी से स्वर्गवासी बनते हो ना। जन्म तो नर्क में लिया है। मरेंगे स्वर्ग के लिए। यहाँ तुम आये ही हो स्वर्ग में जाने के लिए। जैसे कोई ब्रिज आदि बनाते हैं, तो पहले फाउण्डेशन सेरीमनी कर लेते हैं फिर ब्रिज बनती रहती है। स्वर्ग की स्थापना का उद्घाटन (फाउण्डेशन सेरीमनी) बाप ने कर लिया है, अब तैयारी होती रहती है। मकान बनने में टाइम लगता है क्या? गवर्मेन्ट करने पर आये तो एक मास में मकान खड़ा कर ले। विलायत में तो मकान तैयार मिलते हैं। स्वर्ग में तो बहुत विशाल बुद्धि सतोप्रधान होते हैं। साइंस की बुद्धि तीखी होती है। झट बनाते जायेंगे, मकानों में जड़ित भी लगती जायेगी। आजकल इमीटेशन देखो कितना जल्दी बनाते रहते हैं। वह तो फिर रीयल से भी जास्ती चमकता है। और आजकल की मशीनरी से झट बना लेते हैं। वहाँ मकान बनने में देरी नहीं लगती, सफाई आदि होने में टाइम लगता है। ऐसे नहीं कि सोने की द्वारिका समुद्र से निकल आयेगी। तो बाप कहते हैं खाओ पिओ भल, सिर्फ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों, और कोई उपाय नहीं। जन्म-जन्मान्तर यह गंगा स्नान आदि करते आये हो परन्तु कोई भी मुक्ति-जीवनमुक्ति को तो पाते ही नहीं। यहाँ तो बाप पावन बनने की युक्ति बताते हैं। बाप कहते हैं मैं ही पतित-पावन हूँ। तुमने बुलाया है हे पतित-पावन बाबा आओ, आकरके हमको पावन बनाओ। ड्रामा पूरा हुआ तो फिर सब एक्टर्स स्टेज पर होने चाहिए। क्रियेटर भी होना चाहिए। सब खड़े हो जाते हैं ना। यह भी ऐसे है। सभी आत्मायें आ जायेंगी फिर वापिस जाना होगा। अभी तुम तैयार नहीं हुए हो। कर्मातीत अवस्था ही नहीं हुई है तो विनाश कैसे होगा। बाप आते ही हैं तुमको नई दुनिया के लिए पढ़ाने, वहाँ काल होता ही नहीं। तुम काल पर जीत पाते हो। कौन जीत पहनाते हैं? कालों का काल। वह कितनों को साथ ले जाते हैं! तुम खुशी से जाते हो। अब बाप आये हैं सबका दु:ख दूर करने इसलिए उनकी महिमा गाते है, गॉड फादर लिबरेट करो, दु:ख से। शान्तिधाम-सुखधाम में ले चलो। परन्तु यह तो मनुष्यों को पता नहीं कि अभी बाप स्वर्ग की रचना रच रहे हैं। तुम स्वर्ग में जायेंगे वहाँ झाड़ बहुत छोटा होगा फिर वृद्धि को पायेगा। अभी और सब धर्म हैं, वह एक धर्म है नहीं। नाम, रूप, राजाई आदि बदल जाती है। पहले डबल ताज, फिर सिंगल ताज वाले होते हैं। सोमनाथ का मन्दिर बनाया है, कितना धन था। सबसे बड़ा मन्दिर एक है जिसको लूटकर ले गये। बाप कहते हैं तुम पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हो। कदम-कदम पर बाप को याद करते रहो तो पद्म इकट्ठे होंगे। इतनी कमाई बाप को याद करने से होती है। फिर ऐसे बाप को याद करना तुम भूलते क्यों हो? जितना बाप को याद करेंगे, सर्विस करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। अच्छे-अच्छे बच्चे चलते-चलते गिर पड़ते हैं। काला मुँह किया तो की कमाई चट हो जाती है। जबरदस्त लाटरी गँवा देते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गृहस्थ व्यवहार सम्भालते हुए बुद्धियोग बाप के साथ रखना है। ग़फलत नहीं करनी है। पवित्रता की धारणा से अपना और सर्व का कल्याण करना है।

2) याद की यात्रा और पढ़ाई में ही कमाई है, ध्यान दीदार तो घूमना है इसलिए उससे कोई फायदा नहीं। जितना हो सके सुजाग हो, बाप को याद कर अपने विकर्म विनाश करने है।

वरदान:- बाप से शक्ति लेकर हर परिस्थिति को हल करने वाले साक्षी दृष्टा भव
आप बच्चे जानते हो कि अति के बाद ही अन्त होना है। तो हर प्रकार की हलचल अति में होगी, परिवार में भी खिटखिट होगी, मन में भी अनेक उलझनें आयेंगी, धन भी नीचे ऊपर होगा। लेकिन जो बाप के साथी हैं, सच्चे हैं उनका जवाबदार बाप है। ऐसे समय पर मन बाप की तरफ हो तो निर्णय शक्ति से सब पार कर लेंगे। साक्षी दृष्टा हो जाओ तो बाप की शक्ति से हर परिस्थिति को सहज हल कर लेंगे।
स्लोगन:- अब सब किनारे छोड़ घर चलने की तैयारी करो।

TODAY MURLI 7 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 August 2018 :- Click Here

07/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to fulfil your desire for peace and happiness. If you want peace, detach yourself from your bodily organs and stabilize yourself in your original religion.
Question: What effort do you have to make in order to become worthy of worship? Why are you worshipped?
Answer: In order to become worthy of worship, become helpers in the service of purifying the world. The human souls who help the Father are worshipped together with the Father. You children are worshipped with Shiv Baba in the form of saligrams. Then your corporeal forms of the deities Lakshmi and Narayan are worshipped. You have understood the deep significance between worshippers and those who become worthy of worship.
Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for the world. 

Om shanti. It is definitely the Father who makes the mothers a hundred times fortunate. The praise is sung of only the One. The Bestower of Salvation for All is One. It is that One who has to be remembered. This is the praise of you children. You know that it is the Father who makes you fortunate from unfortunate. Bharat was 100% fortunate and then became 100% unfortunate. The story is based on Bharat. It is the Father, the One you children know, who makes you mothers 100% fortunate. Your yoga is connected to Him. You understand that all of this is His creation. No other human beings know the Creator or creation. Who had these pictures etc. made? You would say: Shiv Baba. Through whom? You would say: Through the corporeal mother and father. You children now have the whole world tree in your intellects. How large the world is! Vasco de Gama sailed round the whole earth. All around, there is just the ocean and the sky everywhere; there is nothing else. You must have studied all of this at school. However, the Father explains everything in a nutshell. You know that 5000 years ago it definitely became the golden age in Bharat. In the golden age, there was only Bharat and the population must have been very small. You would now say that you belonged to the kingdom of the sun dynasty. It is remembered that the kingdom of Krishna existed by the banks of the River Jamuna. Delhi was also called Paristhan (the land of angels). It definitely must initially have been someone’s kingdom. You say that you belonged to the kingdom of the sun dynasty. The kingdoms become separate later. In fact, the impact would be where the kingdom is ruled. Bharat has a lot of influence. All of these things should trickle into your intellects. You have to imbibe these aspects. Shiv Baba, the Ocean of Knowledge, is also called Somnath. It was the worshippers who gave Him the name ‘Somnath’. His real name is Shiv Baba. Who is the One called Shiva? The Father of all souls. A soul is a dot. It is remembered that the Supreme Father, the Supreme Soul, is God. A soul is a soul. Souls cannot be bigger or smaller. The Father says: No one realizes it when I enter this one. However, they do understand that there is a tiny star sparkling in the centre of the forehead. They say: The jewel on the forehead. There is a jewel on the forehead. The soul is called the jewel. It is said that there is a jewel on the forehead of a snake. In fact, all of those things belong to this time. A soul in the form of a jewel sparkles and resides in the centre of the forehead. The Father explains new aspects to you children every day. The main thing to understand is: I am a spinner of the discus of self-realisation. The Father says: I, the soul, am the Supreme Soul and I am beyond birth and death. I definitely do come. Temples are built to the incorporeal One. Previously, you did not have this knowledge. Surely, the incorporeal One came and did something. The incorporeal One comes into a family. The souls of Lakshmi and Narayan also come. They are shown with bodies. Only Shiva is shown in the form of a lingam. In the Shiva temples, together with a Shivalingam, there are also saligrams. Saligrams are not shown in the temples to Krishna or Lakshmi and Narayan. This proves that all are the children of the one Father. You are worshipped as souls and you are also worshipped as deities. People speak of the sacrificial fire of Rudra. The Father created this sacrificial fire through human souls. Just as the Father is worshipped, in the same way, you souls should also be worshipped. Then the corporeal form of those who become Lakshmi and Narayan are worshipped. Those names continue. You children are doing service here, through your bodies. This is why you souls are worshipped. Shiv Baba says: I also carry out a lot of important service through this one. This is why I am worshipped first. Then the souls through whom I do the service of making the whole world pure should also definitely be worshipped. Every one of you is worshipped. At least 100,000 saligrams are made. When businessmen create a sacrificial fire of Rudra, some have 5,000 saligrams made, some 10,000 and some have 100,000 made. That worship is of souls and the Supreme Soul. The Father explains: You souls do service with your impure bodies. Shiv Baba does the most service and He also inspires you to do service, so you souls are also worshipped. Together with the Father’s praise, there should also be your praise. No one knows anything. Neither do they know Rudra nor do they know the saligrams who attained the kingdom. You are now attaining that kingdom. The main ones worshipped are Lakshmi and Narayan and their dynasty is also remembered. They must have claimed that kingdom with someone’s help. That kingdom is established with the help of you children. These are very sweet things. Baba continues to explain everything in a nutshell so that you are able to imbibe it. The main aspect you have to imbibe is to remember Me, theFather. The knowledge of the tree and the cycle is within you souls. The number one worthy-of-worship one is Shiv Baba, the Father of all souls, the One who sits here and makes you souls so worthy. You souls are worshipped. You now understand how you become worthy of worship and how you become worshippers. It is the people of Bharat who become worthy of worship and worshippers. Now all are worshippers and they will then become worthy of worship. There, there will be no devotees or worshippers. It must definitely have been God who made them into gods and goddesses. Now, is God incorporeal or corporeal? In the corporeal form, the highest of all are Lakshmi and Narayan. It is the incorporeal One who made them like that. This is why the Incorporeal is worshipped. All of these things are being explained to you children. First of all, you have to have faith in the Father. He is truly the Father of us souls. When someone says “O God! O Supreme Soul!” ask him: Who is remembering and whom are you remembering? You should catch them out and ask them: How many fathers do you have? Whom are you calling out to? Whom are you calling God? They would say: God the Father. So, you definitely have two fathers. Souls remember God the Father. You are a soul and you have a body. Each body has a physical father. Who is the Father of you, the soul, the One whom you call the Supreme Father, the Supreme Soul? Who is calling out and to whom? You have to give the introduction of that unlimited Father, the One from whom you receive your inheritance. This one also remembers Him. Many different names are given in many different languages. Some say “God”, some say “Supreme Soul” and some say “Khuda”. People of all religions definitely remember the One. He is the Father of all souls. It is from the Father that you receive the inheritance. You souls call out to Him. You have to give the introduction of the two fathers: the limited father and the unlimited Father. On the path of devotion, devotees remember God. Therefore, God says: I come and give you peace and happiness. Then you will no longer have any need to remember Me again. It is the people of Bharat who become worshippers and worthy of worship, pure and impure. Other religions are established in between. Then, as the population grows, everyone gradually becomes tamopradhan. By the end, the whole tree will have come down. Only when it becomes empty up there will everyone go back. So, this world is now impure. They sing: O Purifier! Therefore, surely, they must be impure. Bharat was pure and it has now become impure. Shiv Baba definitely comes, but people have forgotten how He comes and when He comes. Krishna doesn’t say: I adopt a body in order to explain to you. It is the incorporeal Father who says: I explain to you through this one. Therefore, He is separate. You yourselves used to believe that Krishna was the God of the Gita. That One says: I enter the ordinary body of this one in his stage of retirement. The Father says: I know your births. Shiv Baba enters this one. Krishna cannot be called God, the Purifier or the Ocean of Knowledge. Although people hold a Gita in their hand, they still say: The Purifier is the Rama of all Sitas. They do not say that it is the Krishna of Radhe. Rama means the Supreme Father, the Supreme Soul. If they are referring to the Rama of the silver age, then Lakshmi and Narayan are higher than he, so why do they not mention their names? However they don’t, because they are referring to the Supreme Soul. Only the incorporeal One is called Heavenly God, the Father. The Father is called the Liberator and the Guide. Christ cannot liberate everyone. You cannot call anyone else this. Only the Father comes and liberates everyone from sorrow. He becomes your Guide and says: I show you the path. The Father has come and made you belong to Him. This is your Godly birth. You receive power from Shiv Baba. You have the power of silence and they have the power of science. They do everything with their intellects. Therefore, they have a lot of arrogance of science and it is through that that destruction takes place. Science gives a great deal of happiness but it then also brings about destruction. There, you will have aeroplanes etc. These skills will also exist there. All of these things will be useful to you later on. Abroad, they have such lighting that you can’t even see the light bulbs, just light is visible everywhere. The lighting in the golden age is also like that. All the physical comforts you have here will also exist there. You have also had visions of all of that. There is no question of accidents etc. there. There is no question of sorrow there. The Father comes and fulfils your desire for peace and happiness. Human beings wander around searching for peace. Therefore, you should ask them: Who made you peaceless? You know that it is the five vices that make you peaceless. However, they do not understand this. They have forgotten that a soul is an embodiment of peace. O souls, you came from the land of silence and adopted those physical organs. Now separate yourselves from those physical organs; detach yourselves! There is no question of doing breathing exercises etc. in this. For how long would you remain sitting in a cave? The soul says: I am detaching myself from these organs because I am tired. I am now forgetting this body. The Father now says: Remember your original religion and your original land. Originally, you were residents of that place. Remember your home. You have to perform actions. You cannot live without performing actions. Sannyasis think that they are renunciates of karma because they don’t prepare their food with their own hands. However, it is not possible to renounce karma. Their religion dictates that they have to eat food provided by householders. This is why they take birth again to householders and then leave to go onto the path of isolation in order to purify Bharat. Only in Bharat was there purity. Everyone was pure, whereas everyone is now impure. The Father sits here and explains this secret. He says: Children, if you don’t do anything else, just simply continue to remember the Father and your sins will be absolved and you will return with Me. This drama is about to end. Everyone has passed through the stages of sato, rajo and tamo and everyone now has to go back. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Consider yourself to be a jewel sparkling in the centre of the forehead. Spin the discus of self-realisation.
  2. Remember your original religion and original land and experience peace. Do not allow your intellect to wander. Practise becoming detached from your body.
Blessing: May you be a spiritual server who maintains enthusiasm within yourself and who also enthuses everyone every day
BapDada gives all the spiritual server children this gift of love: “Children, maintain your own enthusiasm daily and celebrate the festival of giving enthusiasm to everyone else.” By doing this, you will be liberated from any effort required for harmonising sanskars or finishing sanskars. Constantly celebrate this festival and all problems will finish. You will not then have to give any time or have to use your powers for that. You will become flying angels who dance in happiness.
Slogan: Those who understand the secrets of the drama and make the lesson of “nothing new” firm are carefree emperors.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 August 2018

To Read Murli 6 August 2018 :- Click Here
07-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं सुख-शान्ति की मनोकामना पूरी करने, तुम शान्ति चाहते हो तो इन आरगन्स से डिटैच हो जाओ, अपने स्वधर्म में टिको”
प्रश्नः- पूज्य बनने का पुरुषार्थ क्या है? तुम्हारी पूजा क्यों होती है?
उत्तर:- पूज्य बनने के लिये विश्व को पावन बनाने की सेवा में मददगार बनो। जो जीव की आत्मायें बाप को मदद करती हैं उनकी बाप के साथ-साथ पूजा होती है। तुम बच्चे शिवबाबा के साथ सालिग्राम रूप में भी पूजे जाते हो, तो फिर साकार में लक्ष्मी-नारायण वा देवी-देवता के रूप में भी पूजे जाते हो। तुमने पूज्य और पुजारी के रहस्य को भी समझा है।
गीत:- माता ओ माता…….. 

ओम् शान्ति। माताओं को सौभाग्यशाली बनाने वाला जरूर पिता ही है। महिमा तो एक की ही गाई जाती है। सभी का सद्गति दाता एक है। याद भी उस एक को करना पड़ता है। यह तो तुम बच्चों की महिमा है। तुम जानते हो हमको दुर्भाग्यशाली से सौभाग्यशाली बनाने वाला बाप है। भारत सौभाग्यशाली था फिर भारत 100 प्रतिशत दुर्भाग्यशाली बना है। भारत पर ही कहानी है। इन माताओं को सौभाग्यशाली बनाने वाला बाप ठहरा, जिसको तुम बच्चे जानते हो। उनके साथ तुम्हारा योग है। तुम जानते हो उनकी यह सारी रचना है। दूसरा कोई मनुष्य इस रचना और रचता को नहीं जानते। यह चित्र आदि किसने बनवाये हैं? तुम कहेंगे शिवबाबा ने। किस द्वारा? फिर भी माता वा साकार पिता द्वारा कहेंगे। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में सारा सृष्टि रूपी झाड़ है। सृष्टि कितनी बड़ी है! वास्कोडिगामा ने सारी धरती का चक्र लगाया, पिछाड़ी में सागर ही सागर है, आकाश ही आकाश है और कुछ नहीं। यह सब तुमने स्कूल में भी पढ़ा होगा। बाप फिर सब बातें नटशेल में समझाते हैं। तुम जानते हो भारत में 5000 वर्ष पहले बरोबर सतयुग था। सतयुग में सिर्फ भारत था। भारत में भी कितने थोड़े होंगे। अभी तुम कहेंगे हम सूर्यवंशी राजधानी के थे। जमुना के कण्ठे पर कृष्ण की राजधानी थी, ऐसा गाया जाता है। दिल्ली को ही परिस्तान कहते हैं। पहले-पहले जरूर कोई की राजधानी होगी। तुम कहेंगे हम सूर्यवंशी राजधानी के थे। बाद में अलग-अलग हो जाते हैं। तो प्रभाव वास्तव में, जहाँ राज्य करते हैं वहाँ होता है। भारत का बहुत प्रभाव है। यह सब बातें तुम्हारी बुद्धि में टपकनी चाहिये। धारण करना होता है।

शिवबाबा को ही फिर सोमनाथ, ज्ञान का सागर कहते हैं। सोमनाथ नाम पुजारियों ने रखा है। असुल नाम है शिवबाबा। शिव किसको कहा जाता है? आत्माओं के बाप को। आत्मा तो बिन्दी है। गाया जाता है परमपिता परम आत्मा, सुप्रीम सोल। सोल अर्थात् आत्मा। आत्मा बड़ी-छोटी नहीं होती है। बाप कहते हैं मैं भी इसमें प्रवेश करता हूँ तो कोई को मालूम नहीं पड़ता है। परन्तु समझते हैं भ्रकुटी के बीच में वह छोटा सा स्टॉर है ना। तो कहेंगे मस्तकमणी, मस्तक में मणी है। मणी आत्मा को कहा जाता है। कहते हैं सर्प के मस्तक में भी मणी होती है। यह सब बातें वास्तव में इस समय की हैं। आत्मा रूपी मणी प्रकाश करती है। वह भ्रकुटी के बीच में रहती है। बाप तो तुम बच्चों को रोज़ नई-नई बातें समझाते रहते हैं। मुख्य बात समझनी है – मैं स्वदर्शनचक्रधारी हूँ। बाप कहते हैं मेरी जो आत्मा है जिसको परम आत्मा कहते हैं, मैं जन्म-मरण रहित हूँ। मैं आता जरूर हूँ। निराकार का मन्दिर बना हुआ है। आगे यह ज्ञान नहीं था। जरूर निराकार ने आकर कुछ किया है। निराकार आते ही फैमिली में हैं। लक्ष्मी-नारायण की आत्मा भी आती है। उनको भी शरीर दिखाते हैं। लिंग रूप एक ही शिव का दिखाते हैं। शिव के मन्दिर में शिवलिंग के साथ फिर सालिग्राम भी है। ऐसे नहीं, कृष्ण के वा लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में सालिग्राम दिखाते हैं। तो सिद्ध होता है एक बाप के यह सब बच्चे हैं। आत्मा की भी पूजा होती है, तो देवताओं की भी पूजा होती है। रुद्र यज्ञ कहते हैं। बाप ने यह यज्ञ रचा है जीव आत्माओं द्वारा। जैसे बाप की पूजा होती है वैसे तुम्हारी आत्मा की भी पूजा जरूर होनी चाहिए। फिर साकार में जो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, उनकी पूजा होती है। वही नाम चला आता है। यहाँ तुम आत्मायें सर्विस कर रही हो इस शरीर द्वारा इसलिए तुम आत्माओं की पूजा होती है। शिवबाबा कहते हैं मैं भी इनसे बहुत भारी सर्विस करता हूँ इसलिए पहले-पहले मेरी पूजा होती है। फिर जिन आत्माओं द्वारा सर्विस करता हूँ, सारे विश्व को पवित्र बनाता हूँ, उन्हों की भी पूजा जरूर होनी चाहिये। सबकी पूजा करते हैं। कम से कम लाख सालिग्राम बनाते हैं। सेठ लोग रुद्र यज्ञ रचवाते हैं तो कोई 5 हजार, कोई 10 हजार, कोई लाख सालिग्राम भी बनवाते हैं। यह है परमात्मा और आत्माओं की पूजा। बाप समझाते हैं – तुम आत्मायें इस पतित शरीर द्वारा सेवा कर रही हो। सबसे जास्ती सर्विस शिवबाबा करते हैं और फिर तुम्हारे द्वारा कराते हैं तो तुम आत्माओं की पूजा होती है। बाप के साथ पहले-पहले तुम्हारी महिमा आनी चाहिए। जानते कोई भी नहीं हैं। न रुद्र को, न सालिग्रामों को जानते हैं, जिन्होंने राज्य पाया। अभी तुम राज्य पा रहे हो। पूजा मुख्य की होती है, वह है लक्ष्मी-नारायण, जिनकी डिनायस्टी गाई हुई है। उन्होंने यह भी राज्य कोई की मदद से लिया होगा ना। तुम बच्चों की मदद से राजधानी स्थापन होती है। बड़ी मीठी बातें हैं। नटशेल में बाबा समझाते रहते हैं ताकि धारण भी कर सको। मुख्य धारणा की बात है – मुझ बाप को याद करो।

तुम्हारी आत्मा में भी झाड़ और चक्र की नॉलेज है। नम्बरवन सबसे पूज्य शिवबाबा आत्माओं का बाप है, जो तुमको बैठ ऐसा लायक बनाते हैं। तुम आत्माओं की पूजा होती है। हम पूज्य और पुजारी कैसे बनते हैं सो अब समझते हो। भारतवासी ही पूज्य और पुजारी बनते हैं। अभी सब पुजारी हैं फिर पूज्य होंगे। वहाँ फिर कोई पुजारी भक्त नहीं होगा। उन्हों को भगवती भगवान् जरूर भगवान् ने ही बनाया होगा। अब भगवान् निराकार है या साकार? साकार में ऊंच ते ऊंच लक्ष्मी-नारायण हैं, उन्हों को ऐसा बनाने वाला है निराकार, इसलिए निराकार की पूजा होती है। यह सब बातें तुम बच्चों को समझाई जाती हैं। पहले-पहले बाप में निश्चय रखना है। बरोबर हम आत्माओं का बाप वह है। कोई कहे – हे भगवान, हे परमपिता तो बोलो यह किसने याद किया और किसको? एकदम पकड़ना चाहिए। तुमको कितने बाप हैं? तुम किसको पुकारते हो? भगवान किसको कहते हो? कहेंगे गॉड फादर। तो जरूर दो फादर हैं। आत्मा याद करती है गॉड फादर को। तुम्हारी आत्मा भी है और शरीर भी है। शरीर का तो लौकिक बाप है। आत्मा का बाप कौन है? जिसको कहते हैं परमपिता परमात्मा। यह किसने और किसको पुकारा? उस बेहद के बाप का परिचय देना है। उनसे ही वर्सा मिलता है। यह भी उनको याद करते हैं। भिन्न-भिन्न भाषाओं में भिन्न-भिन्न नाम भी रख दिये हैं। कोई गॉड कहते हैं, कोई परमात्मा, कोई खुदा कहते हैं। सभी धर्म वाले याद जरूर एक को ही करते हैं। वह है सभी आत्माओं का बाप। वर्सा बाप से ही मिलता है। तुम आत्मा उनको पुकारती हो। दो बाप का परिचय देना है – हद का बाप और बेहद का बाप। भक्ति मार्ग में भक्त भगवान को याद करते हैं तो भगवान कहते हैं – मैं आता हूँ, आकर तुमको शान्ति-सुख देता हूँ। फिर मुझे कभी याद करने की भी दरकार नहीं रहेगी। तो पूज्य-पुजारी, पावन-पतित भारतवासी ही बनते हैं। बाकी बीच में और धर्म स्थापन होते हैं। फिर वृद्धि को पाते-पाते पिछाड़ी में वह भी सब तमोप्रधान बन जाते हैं। पिछाड़ी में सारा झाड़ आ जायेगा। वहाँ खाली होगा तब तो फिर वापिस जायेंगे। तो अभी है पतित दुनिया। गाते हैं पतित-पावन…… तो जरूर पतित हैं ना। भारत पावन था, अभी पतित है। शिवबाबा आते जरूर हैं, परन्तु कब आया, कैसे आया – वह भूल गये हैं। कृष्ण नहीं कहते कि मैं शरीर धारण कर तुमको समझाता हूँ। यह तो निराकार बाप कहते हैं मैं इस द्वारा तुमको समझाता हूँ, तो वह अलग हो गया। कृष्ण को तुम खुद ही गीता का भगवान मानते हो। यह तो कहते हैं मैं साधारण वानप्रस्थ वाले तन में प्रवेश करता हूँ। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारे जन्मों को जानता हूँ। शिवबाबा इसमें प्रवेश करते हैं। कृष्ण को भगवान, पतित-पावन, ज्ञान सागर कह नहीं सकते। भल गीता हाथ में उठाते हैं फिर भी कहते हैं पतित-पावन सब सीताओं का राम, राधे का कृष्ण नहीं कहते।

राम अर्थात् परमपिता परमात्मा। त्रेता का राम कहें तो उनसे ऊंच तो लक्ष्मी-नारायण हैं फिर उनका नाम क्यों नहीं लेते? परन्तु नहीं। है बात परमात्मा की। हेविनली गॉड फादर निराकार को ही कहेंगे। लिबरेटर, गाइड बाप को ही कहते हैं। क्राइस्ट थोड़ेही सबको लिबरेट करेगा। किसी का भी नाम नहीं ले सकते हैं। बाप ही आकर दु:ख से लिबरेट करते हैं। वही फिर गाइड बनते हैं, कहते हैं मैं तुमको रास्ता बताता हूँ। तुमको बाप ने आकर अपना बनाया है। तुम्हारा यह है ईश्वरीय जन्म। तुमको शिवबाबा से शक्ति मिलती है। तुम्हारा है साइलेन्स बल, उनका है साइन्स बल। वह बुद्धि से काम लेते हैं, उन्हें साइन्स घमण्डी कहा जाता है, जिससे विनाश करते हैं। सुख भी साइन्स बहुत देती है फिर विनाश भी कर देती है। तुमको तो वहाँ एरोप्लेन आदि सब होंगे। हुनर तो रहता है ना। यह सब चीजें फिर तुमको काम में आयेंगी। विलायत में बत्तियां ऐसी हैं जो बत्ती दिखाई नहीं पड़ेगी, सिर्फ रोशनी दिखाई पड़ेगी। सतयुग में भी ऐसे रोशनी रहती है। वैभव जो अभी यहाँ हैं वह तुमको वहाँ भी रहते हैं। तुमने साक्षात्कार किया हुआ है। वहाँ तो एक्सीडेन्ट आदि की बात नहीं रहती है। दु:ख की बात नहीं होती। बाप आकर तुम्हारी सुख और शान्ति की मनोकामना पूरी करते हैं।

मनुष्य शान्ति के लिए भटकते हैं, उनसे पूछना है तुमको अशान्त किसने किया है? यह तुम जानते हो। अशान्त यह 5 विकार ही करते हैं। परन्तु यह समझते नहीं, यह भूल गये हैं। आत्मा शान्त स्वरूप है। हे आत्मा, तुम आई हो शान्ति देश से फिर यह आरगन्स लिए हैं। अभी तुम उनसे अलग हो जाओ, डिटैच हो जाओ। इसमें और कुछ प्राणायाम आदि करने की बात नहीं। कहाँ तक गुफा में बैठेंगे। आत्मा कहती है मैं इन आरगन्स से डिटैच हो जाती हूँ क्योंकि मैं थक गई हूँ। अभी इस शरीर को भूल जाती हूँ। अभी बाप कहते हैं तुम अपने स्वधर्म और स्वदेश को याद करो। तुम असुल वहाँ के रहने वाले हो। अपने घर को याद करो। कर्म तो करना ही है। कर्म बिना रह नहीं सकते। वह समझते हैं हम भोजन अपने हाथ से नहीं पकाते हैं इसलिए कर्म सन्यासी नाम है। परन्तु कर्म का सन्यास तो हो नहीं सकता। उनका तो धर्म ही ऐसा है। गृहस्थियों के पास उनको खाना पड़ता है इसलिए फिर गृहस्थियों के पास जन्म ले निवृत्ति मार्ग में जाना है क्योंकि भारत को पवित्र बनाना है। भारत में ही प्योरिटी थी। सब प्योर थे। अब सब पतित हैं। बाप बैठ यह राज़ समझाते हैं। फिर कहते हैं – बच्चे, और कुछ न करो, सिर्फ बाप को याद करते रहो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे और तुम मेरे पास चले आयेंगे। ड्रामा पूरा होना है। सतो, रजो, तमो से पास होकर अभी सबको वापिस जाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं को इस शरीर में भ्रकुटी के बीच चमकती हुई मणी समझना है। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है।

2) अपने स्वधर्म और स्वदेश को याद कर शान्ति का अनुभव करना है। बुद्धि को भटकाना नहीं है। इस शरीर से डिटैच होने का अभ्यास करना है।

वरदान:- सदा हर दिन स्व उत्साह में रहने और सर्व को उत्साह दिलाने वाले रूहानी सेवाधारी भव
बापदादा सभी रूहानी सेवाधारी बच्चों को स्नेह की यह सौगात देते हैं कि “बच्चे हर रोज़ स्व उत्साह में रहो और सर्व को उत्साह दिलाने का उत्सव मनाओ।” इससे संस्कार मिलाने की, संस्कार मिटाने की जो मेहनत करनी पड़ती है वह छूट जायेगी। यह उत्सव सदा मनाओ तो सारी समस्यायें खत्म हो जायेंगी। फिर समय भी नहीं देना पड़ेगा, शक्तियां भी नहीं लगानी पड़ेगी। खुशी में नाचने, उड़ने वाले फरिश्ते बन जायेंगे।
स्लोगन:- ड्रामा के राज़ को समझ नथिंगन्यु का पाठ पक्का करने वाले ही बेफिक्र बादशाह हैं।
Font Resize