daily murli 5 october

TODAY MURLI 5 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 October 2020

05/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, sit in solitude and practice experiencing yourself to be a soul separate from your body. This is known as dying alive.
Question: What is the meaning of solitude? What should you experience while sitting in solitude?
Answer: The meaning of solitude (lost in the depths of One) is to sit in remembrance of the One and let the body finish. This means to sit in solitude and experience: I, a soul, am leaving this body and am going to the Father. No one else should be remembered. Become bodiless while sitting there, as though you are dead to your body. I am a soul, a child of Shiv Baba. That’s all! By practising this, your body consciousness will continue to break.

Om shanti. The Father first of all explains to you children: Sweetest children, while sitting here in remembrance, consider yourselves to be souls and continue to remember the Father. Your intellects should not be drawn anywhere else. You children know that you are souls. I, a soul, am playing a part through this body. Souls are imperishable and bodies are perishable. Therefore, you children have to become soul conscious and stay in remembrance of the Father. I am a soul and it is up to me to make these organs work or not. Each of you has to consider yourself to be separate from your body. The Father says: Consider yourself to be a soul. Continue to forget your body. I, a soul, am independent. I must remember no one but the one Father. For as long as I live, I must stay in the stage of death. The yoga of us souls must now be with the Father. I am dead to the world and my home. It is said: When you die, the world is dead for you. You now have to die alive. I, a soul, am a child of Shiv Baba. Continue to forget the consciousness of the body. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me. Forget the consciousness of your body. That is an old body, is it not? Old things are discarded. Consider yourself to be bodiless. You now have to go to the Father while remembering Him. By doing this, you will instil that habit. You now have to return home. Therefore, why should you remember this old world? Sit in solitude and make effort on yourself. Those on the path of devotion sit in a little alcove and turn the beads of a rosary and perform worship. You too should sit in solitude and try this and you will then instil this habit. You don’t have to say anything with your lips. Here, it is a matter of the intellect. Shiv Baba is the One who is teaching you. He doesn’t have to make effort. It is this Baba who makes effort. He then explains to you children. Sit and churn knowledge in this way as much as possible. We now have to return to our home. These bodies have to be renounced here. It is only by remembering the Father that your sins will be absolved and your lifespan increased. You should constantly be thinking about this internally; you don’t need to say anything out loud. On the path of devotion, some remember the brahm element and others even remember Shiva, but that remembrance is not accurate. Since they don’t have the introduction of the Father, how could they remember Him accurately? You have now received the Father’s introduction. Wake up early in the morning and continue to talk to yourself in this way in solitude. Churn the ocean of knowledge and remember the Father. Baba, I am now truly about to come into Your lap. That is the spiritual lap. Therefore, talk to yourself in this way. Baba has come. Baba comes every cycle and teaches us Raj Yoga. The Father says: Remember Me and remember the cycle. You have to become spinners of the discus of self-realization. Only the Father has the knowledge of the whole cycle. He now gives it to you. He is making you into the knowers of the three aspects of time. You know all three aspects of time, that is, the beginning, the middle and the end. The Father is the Supreme Soul. He doesn’t have a body of His own. He is now sitting in this body and explaining to you. This is a wonderfulaspect. Since He becomes present in the Lucky Chariot, there must definitely be another soul. It is this one’s last of many births. He was the number one, pure soul who then became number one impure. He doesn’t call himself God or Vishnu etc. Not a single soul here is pure; all are impure. So, Baba explains to you children: Churn knowledge in this way and you will remain happy. Solitude is definitely needed for this. The body finishes by having remembrance of One. This is known as solitude. This skin will then be renounced. Sannyasis stay in remembrance of the brahm element or the elements and, while staying in that remembrance, they renounce the consciousness of their bodies. Their only concern is to merge into the brahm element. They just sit in that awareness. While sitting in that tapasya, they renounce their bodies. People on the path of devotion stumble around a great deal. Here, there is no question of stumbling around. You just have to stay in remembrance. At the end, no one else must be remembered. You have to live at home with your families, but you must also make time to practise this. A student has great interest in his studies. This too is a study. When you don’t consider yourself to be a soul, you forget the Father, Teacher and Guru. Sit in solitude and churn knowledge in this way. The vibrations in a busy household are not that good. If it is possible to make alternative arrangements, sit in solitude in a small room. Mothers have time during the day when the children have gone to school. Whatever time you have, continue to practise this. You just have your one home, whereas the Father has so many shops and the number of them will continue to grow. People worry about their business etc. and they lose sleep over it. This too is a business. Baba is such a big stockbroker. He exchanges so much. He exchanges your old bodies etc. for new ones. He shows everyone the path. He has to do this business. This business is very big. Businessmen are only concerned about their business. Baba practises this business and tells you to do the same. The longer you stay in remembrance of the Father, the longer you will remain awake. When earning an income, souls enjoy themselves. People stay awake at night in order to earn money. During the season, they even keep their shops open all night. You will earn a very good income at night and early in the morning. You will become spinners of the discus of self-realization and knowers of the three aspects of time. You are accumulating wealth for 21 births. People make effort to become wealthy. If you remember the Father, your sins will be absolved and you will receive strength. If you don’t stay on the pilgrimage of remembrance you experience great deal of loss because you have a huge burden of sins on your head. You now have to accumulate. Only remember the One and become knowers of the three aspects of time. You have to accumulate this imperishable wealth for half the cycle. This is very valuable. Churn the ocean of knowledge and extract jewels. Baba shows you children the way he does this himself. Some say: Baba, many storms of Maya come. Baba says: Earn as much as possible. It is this that will be useful. Sit in solitude and remember the Father. If you have time, you can do a lot of service in the temples etc. You must definitely have your badge with you. Everyone will then understand that you are the spiritual military. You even write that you are establishing heaven. There used to be the original eternal deity religion. That no longer exists; it is being established now. Lakshmi and Narayan are your aim and objective. At some time you will even take this “translight” picture with a battery and go on a tour of the towns and villages and tell everyone that you are establishing this kingdom. This picture is firstclass. This picture will become very famous. There won’t just be Lakshmi and Narayan; there will also be their whole kingdom. Self-sovereignty is being established. The Father now says: Manmanabhav! Remember the Father and your sins will be absolved. They say that they will celebrate a week of the Gita. All of these plans are being made exactly as they were a cycle ago. When you take this picture around the whole town, everyone will be very happy to see it. Tell them: Remember the Father and the inheritance. Manmanabhav! This is a term from the Gita. Shiv Baba is God. He says: Remember Me and your sins will be absolved! By remembering the cycle of 84 births this is what you will become. You can continue to give gifts of literature. Shiv Baba’s treasure-store is constantly overflowing. As you make further progress, a lot of service will take place. The aim and objective is very clear. There was one kingdom and one religion and you were very wealthy. People want there to be one kingdom and one religion. The signs of what people want are visible in front of you. Later, they will understand that what you are saying is right. The kingdom of 100% purity, peace and happiness is once again being established. You will then also be happy. Your arrow will strike the target when you stay in remembrance. You should only speak a few words and remain in silence and not come into sound too much. Baba doesn’t like songs and poetry etc. You mustn’t compare yourselves to the people outside. Everything of yours is totally different. Consider yourself to be a soul and remember the Father. That’s all! You should have very good slogans so that, when people read them, they will wake up. The number of children continues to grow, but the treasure-store still remains full. Whatever children give is then used by the children themselves. The Father doesn’t bring any money with Him. Your things are used by you. The people of Bharat believe that they are reforming many things. They say that in five years there will be so much grain that there will never be any difficulty about grain, whereas you know that the situation will be such that there won’t be any food to eat. It isn’t that grain will be cheap. You children know that you are claiming your fortune of the kingdom for 21 births. You will have to tolerate these few difficulties. It is said: “There is no nourishment like happiness.” “The supersensuous joy of the gopes and gopis” has also been remembered. There will be many children. Those who belong to this sapling will continue to come. The tree has to grow here. Establishment is taking place here. It is not like this in other religions; they come from up above. When they come, it is as though their tree is already planted. Then they continue to come down, numberwise, and their tree continues to grow. They have no difficulty at all. They have to come down from above and play their parts. Therefore, there is no question of praise. Followers continue to follow the founder of their religion down here. What teachings do they give to attain salvation? None at all! Here, the Father is establishing the future deity religion. The new sapling is planted at the confluence age. First of all, a sapling is planted in a pot, and then it is transplanted into the ground and it continues to grow there. You too are all planting the sapling. It will then grow in the golden age and you will attain your fortune of the kingdom. You are establishing the new world. People believe that many years of the iron age still remain because the scriptures speak of hundreds of thousands of years. They think that 40,000 years of the iron age still remain and that the Father will then come and create the new world. Some believe that this is the same Mahabharat War, that the God of the Gita definitely exists. You tell them that it wasn’t Krishna. The Father has explained that Krishna takes 84 births. The features of one birth cannot be the same in another, so how could Krishna come here? No one thinks about these things. You understand that Krishna was a prince of heaven, so how could he come in the copper age? By looking at the picture of Lakshmi and Narayan, you are able to understand everything. Shiv Baba is giving you this inheritance. Only the Father establishes the golden age. The pictures of the cycle and the tree etc. are no less. One day, all of these pictures you have will be created in a “translight form. Then, everyone will ask for such a picture. Fast service will take place through these pictures. So many children will come to you that you won’t have any time. Many will come and you will be happy. Day by day, your force will increase. According to the drama, those who are to become flowers will be touched. You children won’t have to say: Baba, touch this one’s intellect. Baba doesn’t touch anyone’s intellect. At the right time, they will be touched automatically. The Father only shows you the path. Many daughters write: Touch the intellect of my husband. If Baba were to touch everyone’s intellect, everyone would all come together in heaven. There has to be some effort in a study. You are God’s helpers. Baba tells you all the truth in advance. He tells you exactly what you have to do. Take these pictures with you and also take the picture of the ladder. According to the drama, establishment has to take place. Pay attention to the directions that Baba gives you for doing service. Baba says: Create hundreds of thousands of badges of different types. Buy a train ticket for 100 miles and go around and serve. Go from one carriage to the next and then to the next. This is very easy. You children should be very interested in doing service. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge and extract very good jewels. Accumulate an income. Become a true helper and do service.
  2. Be very interested in studying. Whenever you have time, go into solitude. Practise being dead to your body while alive. Continue to experience this stage and forget the consciousness of your body.
Blessing: May you be a true server who finishes all differences and brings about unity.
The speciality of Brahmin life is for the many to become united. It is with your unity that one religion and one kingdom will be established in the world. So, pay special attention to finishing any differences and bring about unity and you will then be called the true servers. You are not servers for yourselves but servers for serving. Whatever you have surrendered is for service. Just as sakar Baba sacrificed his bones for service, in the same way, let service continue to take place through every physical organ of yours.
Slogan: Become lost in God’s love and the world of sorrow will be forgotten.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – एकान्त में बैठ अब ऐसा अभ्यास करो जो अनुभव हो मैं शरीर से भिन्न आत्मा हूँ, इसको ही जीते जी मरना कहा जाता है”
प्रश्नः- एकान्त का अर्थ क्या है? एकान्त में बैठ तुमको कौन-सा अनुभव करना है?
उत्तर:- एकान्त का अर्थ है एक की याद में इस शरीर का अन्त हो अर्थात् एकान्त में बैठ ऐसा अनुभव करो कि मैं आत्मा इस शरीर (चमड़ी) को छोड़ बाप के पास जाती हूँ। कोई भी याद न रहे। बैठे-बैठे अशरीरी हो जाओ। जैसेकि हम इस शरीर से मर गये। बस हम आत्मा हैं, शिव बाबा के बच्चे हैं, इस प्रैक्टिस से देह भान टूटता जायेगा।

ओम् शान्ति। बच्चों को बाप पहले-पहले समझाते हैं कि मीठे-मीठे बच्चों जब यहाँ बैठते हो, तो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो और कोई तरफ बुद्धि नहीं जानी चाहिए। यह तुम बच्चे जानते हो हम आत्मा हैं। पार्ट हम आत्मा बजाती हैं इस शरीर द्वारा। आत्मा अविनाशी, शरीर विनाशी है। तो तुम बच्चों को देही-अभिमानी बन बाप की याद में रहना है। हम आत्मा हैं चाहें तो इन आरगन्स से काम लेवें वा न लेवें। अपने को शरीर से अलग समझना चाहिए। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। देह को भूलते जाओ। हम आत्मा इन्डिपिन्डेंट हैं। हमको सिवाए एक बाप के और कोई को याद नहीं करना है। जीते जी मौत की अवस्था में रहना है। हम आत्मा का योग रहना है अब बाप के साथ। बाकी तो दुनिया से, घर से मर गये। कहते हैं ना आप मुये मर गई दुनिया। अब जीते जी तुमको मरना है। हम आत्मा शिवबाबा के बच्चे हैं। शरीर का भान उड़ाते रहना चाहिए। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो और मुझे याद करो। शरीर का भान छोड़ो। यह पुराना शरीर है ना। पुरानी चीज़ को छोड़ा जाता है ना। अपने को अशरीरी समझो। अभी तुमको बाप को याद करते-करते बाप के पास जाना है। ऐसे करते-करते फिर तुमको आदत पड़ जायेगी। अभी तो तुमको घर जाना है फिर इस पुरानी दुनिया को याद क्यों करें। एकान्त में बैठ ऐसे अपने साथ मेहनत करनी है। भक्ति मार्ग में भी कोठरी में अन्दर बैठ माला फेरते हैं, पूजा करते हैं। तुम भी एकान्त में बैठ यह कोशिश करो तो आदत पड़ जायेगी। तुमको मुख से तो कुछ बोलना नहीं है। इसमें है बुद्धि की बात। शिवबाबा तो है सिखलाने वाला। उनको तो पुरूषार्थ नहीं करना है। यह बाबा पुरूषार्थ करते हैं, वह फिर तुम बच्चों को भी समझाते हैं। जितना हो सके ऐसे बैठकर विचार करो। अभी हमको जाना है अपने घर। इस शरीर को तो यहाँ छोड़ना है। बाप को याद करने से ही विकर्म विनाश होंगे और आयु भी बढ़ेगी। अन्दर यह चिन्तन चलना चाहिए। बाहर में कुछ बोलना नहीं है। भक्ति मार्ग में भी ब्रह्म तत्व को या कोई शिव को भी याद करते हैं। परन्तु वह याद कोई यथार्थ नहीं है। बाप का परिचय ही नहीं तो याद कैसे करें। तुमको अब बाप का परिचय मिला है। सवेरे-सवेरे उठकर एकान्त में ऐसे अपने साथ बातें करते रहो। विचार सागर मंथन करो, बाप को याद करो। बाबा हम अभी आया कि आया आपकी सच्ची गोद में। वह है रूहानी गोद। तो ऐसे-ऐसे अपने साथ बातें करनी चाहिए। बाबा आया हुआ है। बाबा कल्प-कल्प आकर हमको राजयोग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं – मुझे याद करो और चक्र को याद करो। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। बाप में ही सारा ज्ञान है ना चक्र का। वह फिर तुमको देते हैं। तुमको त्रिकालदर्शी बना रहे हैं। तीनों कालों अर्थात् आदि-मध्य-अन्त को तुम जानते हो। बाप भी है परम आत्मा। उनको शरीर तो है नहीं। अभी इस शरीर में बैठ तुमको समझाते हैं। यह वन्डरफुल बात है। भागीरथ पर विराजमान होंगे तो जरूर दूसरी आत्मा है। बहुत जन्मों के अन्त का जन्म इनका है। नम्बरवन पावन वही फिर नम्बरवन पतित बनते हैं। वह अपने को भगवान, विष्णु आदि तो कहते नहीं। यहाँ एक भी आत्मा पावन है नहीं, सब पतित ही हैं। तो बाबा बच्चों को समझाते हैं, ऐसे-ऐसे विचार सागर मंथन करो तो इससे तुमको खुशी भी रहेगी, इसमें एकान्त भी जरूर चाहिए। एक की याद में शरीर का अन्त होता है, उनको कहा जाता है एकान्त। यह चमड़ी छूट जायेगी। सन्यासी भी ब्रह्म की याद में वा तत्व की याद में रहते हैं, उस याद में रहते-रहते शरीर का भान छूट जाता है। बस हमको ब्रह्म में लीन होना है। ऐसे बैठ जाते हैं। तपस्या में बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं। भक्ति में तो मनुष्य बहुत धक्के खाते हैं, इसमें धक्के खाने की बात नहीं। याद में ही रहना है। पिछाड़ी में कोई याद न रहे। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना ही है। बाकी टाइम निकालना है। स्टूडेण्ट को पढ़ाई का शौक होता है ना। यह पढ़ाई है, अपने को आत्मा न समझने से बाप-टीचर-गुरू सबको भूल जाते हैं। एकान्त में बैठ ऐसे-ऐसे विचार करो। गृहस्थी घर में तो वायब्रेशन ठीक नहीं रहता है। अगर अलग प्रबन्ध है तो एक कोठरी में एकान्त में बैठ जाओ। माताओं को तो दिन में भी टाइम मिलता है। बच्चे आदि स्कूल में चले जाते हैं। जितना टाइम मिले यही कोशिश करते रहो। तुमको तो एक घर है, बाप को तो कितने ढेर के ढेर दुकान हैं, और ही वृद्धि होती जायेगी। मनुष्यों को तो धन्धे आदि की चिंता होती है तो नींद भी फिट जाती है। यह व्यापार भी है ना। कितना बड़ा शर्राफ है। कितना बड़ा मट्टा-सट्टा करते हैं। पुराने शरीर आदि लेकर नया देते हैं, सबको रास्ता बताते हैं। यह भी धन्धा उनको करना है। यह व्यापार तो बहुत बड़ा है। व्यापारी को व्यापार का ही ख्याल रहता है। बाबा ऐसे-ऐसे प्रैक्टिस करते हैं फिर बतलाते हैं – ऐसे-ऐसे करो। जितना तुम बाप की याद में रहेंगे तो स्वत: ही नींद फिट जायेगी। कमाई में आत्मा को बहुत मज़ा आयेगा। कमाई के लिए मनुष्य रात में भी जागते हैं। सीज़न में सारी रात भी दुकान खुला रहता है। तुम्हारी कमाई रात को और सवेरे को बहुत अच्छी होगी। स्वदर्शन चक्रधारी बनेंगे, त्रिकालदर्शी बनेंगे। 21 जन्म के लिए धन इकट्ठा करते हैं। मनुष्य साहूकार बनने के लिए पुरूषार्थ करते हैं। तुम भी बाप को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे, बल मिलेगा। याद की यात्रा पर नहीं रहेंगे तो बहुत घाटा पड़ जायेगा क्योंकि सिर पर पापों का बोझा बहुत है। अब जमा करना है, एक को याद करना है और त्रिकालदर्शी बनना है। यह अविनाशी धन आधाकल्प के लिए इकट्ठा करना है। यह तो बहुत वैल्युबुल है। विचार सागर मंथन कर रत्न निकालने हैं। बाबा जैसे खुद करते हैं, बच्चों को भी युक्ति बतलाते हैं। कहते हैं बाबा माया के तूफान बहुत आते हैं।

बाबा कहते हैं जितना हो सके अपनी कमाई करनी है, यही काम आनी है। एकान्त में बैठ बाप को याद करना है। फुर्सत है तो सर्विस भी मन्दिरों आदि में बहुत कर सकते हो। बैज जरूर लगा रहे। सब समझ जायेंगे यह रूहानी मिलेट्री है। तुम लिखते भी हो – हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, अब नहीं है जो फिर स्थापन करते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण एम-ऑब्जेक्ट है ना। कोई समय यह ट्रांसलाइट का चित्र बैटरी सहित उठाकर परिक्रमा देंगे और सबको कहेंगे, यह राज्य हम स्थापन कर रहे हैं। यह चित्र सबसे फर्स्ट क्लास है। यह चित्र बहुत नामीग्रामी हो जायेगा। लक्ष्मी-नारायण सिर्फ एक तो नहीं थे, उन्हों की राजधानी थी ना। यह स्वराज्य स्थापन कर रहे हैं। अब बाप कहते हैं मन-मनाभव। बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। कहते हैं हम गीता का सप्ताह मनायेंगे। यह सब प्लैन कल्प पहले मुआफिक बन रहे हैं। परिक्रमा में यह चित्र लेना पड़े। इनको देखकर सब खुश होंगे। तुम कहेंगे बाप को और वर्से को याद करो, मनमनाभव। यह गीता के अक्षर हैं ना। भगवान शिवबाबा है, वह कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों। 84 के चक्र को याद करो तो यह बन जायेंगे। लिटरेचर भी तुम सौगात देते रहो। शिवबाबा का भण्डारा तो सदा भरपूर है। आगे चलकर बहुत सर्विस होगी। एम ऑब्जेक्ट कितनी क्लीयर है। एक राज्य, एक धर्म था, बहुत साहूकार थे। मनुष्य चाहते हैं एक राज्य, एक धर्म हो। मनुष्य जो चाहते हैं सो अब आसार दिखाई पड़ते हैं फिर समझेंगे यह तो ठीक कहते हैं। 100 प्रतिशत पवित्रता, सुख, शान्ति का राज्य फिर से स्थापन कर रहे हैं फिर तुमको खुशी भी रहेगी। याद में रहने से ही तीर लगेगा। शान्ति में रह थोड़े अक्षर ही बोलने हैं। जास्ती आवाज़ नहीं। गीत, कविताएं आदि कुछ भी बाबा पसन्द नहीं करते। बाहर वाले मनुष्यों से रीस नहीं करनी है। तुम्हारी बात ही और है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है, बस। स्लोगन भी अच्छे हों जो मनुष्य पढ़कर जागें। बच्चे वृद्धि को पाते रहते हैं। खजाना तो भरपूर रहता है। बच्चों का दिया हुआ फिर बच्चों के काम में ही आता है। बाप तो पैसे नहीं ले आते हैं। तुम्हारी चीजें तुम्हारे काम में आती हैं। भारतवासी जानते हैं हम बहुत सुधार कर रहे हैं। 5 वर्ष के अन्दर इतना अनाज होगा जो अनाज की कभी तकलीफ नहीं होगी। और तुम जानते हो – ऐसी हालत होगी जो अन्न खाने के लिए नहीं मिलेगा। ऐसे नहीं अनाज कोई सस्ता होगा।

तुम बच्चे जानते हो हम 21 जन्म के लिए अपना राज्य-भाग्य पा रहे हैं। यह थोड़ी बहुत तकलीफ तो सहन करनी ही है। कहा जाता है खुशी जैसी खुराक नहीं। अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों का गाया हुआ है। ढेर बच्चे हो जायेंगे। जो भी सैपलिंग वाले होंगे वह आते जायेंगे। झाड़ यहाँ ही बढ़ना है ना। स्थापना हो रही है। और धर्मों में ऐसा नहीं होता है। वह तो ऊपर से आते हैं। यह तो जैसेकि झाड़ स्थापन हुआ ही पड़ा है, इसमें फिर नम्बरवार आते जायेंगे, वृद्धि को पाते जायेंगे। तकलीफ कुछ नहीं। उन्हों को तो ऊपर से आकर पार्ट बजाना ही है, इसमें महिमा की क्या बात है। धर्म स्थापक के पिछाड़ी आते रहते हैं। वह शिक्षा क्या देंगे सद्गति की? कुछ भी नहीं। यहाँ तो बाप भविष्य देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। संगमयुग पर नया सैपलिंग लगाते हैं ना। पहले पौधों को गमले में लगाकर फिर नीचे लगा देते हैं। वृद्धि होती जाती है। तुम भी अब पौधा लगा रहे हो फिर सतयुग में वृद्धि को पाए राज्य-भाग्य पायेंगे। तुम नई दुनिया की स्थापना कर रहे हो। मनुष्य समझते हैं – अजुन कलियुग में बहुत वर्ष पड़े हैं क्योंकि शास्त्रों में लाखों वर्ष लिख दिये हैं। समझते हैं कलियुग में अभी 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं। फिर बाप आकर नई दुनिया बनायेंगे। कई समझते हैं यह वही महाभारत लड़ाई है। गीता का भगवान भी जरूर होगा। तुम बतलाते हो कृष्ण तो था नहीं। बाप ने समझाया है – कृष्ण तो 84 जन्म लेते हैं। एक फीचर्स न मिले दूसरे से। तो यहाँ फिर कृष्ण कैसे आयेंगे। कोई भी इन बातों पर विचार नहीं करते हैं। तुम समझते हो कृष्ण स्वर्ग का प्रिन्स वह फिर द्वापर में कहाँ से आयेगा। इस लक्ष्मी-नारायण के चित्र को देखने से ही समझ में आ जाता है – शिव-बाबा यह वर्सा दे रहे हैं। सतयुग की स्थापना करने वाला बाप ही है। यह गोला, झाड़ आदि के चित्र कम थोड़ेही हैं। एक दिन तुम्हारे पास यह सब चित्र ट्रांसलाइट के बन जायेंगे। फिर सब कहेंगे हमको ऐसे चित्र ही चाहिए। इन चित्रों से फिर विहंग मार्ग की सर्विस हो जायेगी। तुम्हारे पास बच्चे इतने आयेंगे जो फुर्सत नहीं रहेगी। ढेर आयेंगे। बहुत खुशी होगी। दिन-प्रतिदिन तुम्हारा फोर्स बढ़ता जायेगा। ड्रामा अनुसार जो फूल बनने वाले होंगे उनको टच होगा। तुम बच्चों को ऐसे नहीं कहना पड़ेगा कि बाबा इनकी बुद्धि को टच करो। टच कोई बाबा थोड़ेही करते हैं। समय पर आपेही टच होगा। बाप तो रास्ता बतायेंगे ना। बहुत बच्चियां लिखती हैं – हमारे पति की बुद्धि को टच करो। ऐसे सबकी बुद्धि को टच करेंगे फिर तो सब स्वर्ग में इकट्ठे हो जायें। पढ़ाई की ही मेहनत है। तुम खुदाई खिदमतगार हो ना। सच्ची-सच्ची बात बाबा पहले से ही बता देते हैं – क्या-क्या करना है। ऐसे चित्र ले जाने पड़ेंगे। सीढ़ी का भी ले जाना पड़े। ड्रामा अनुसार स्थापना तो होनी ही है। बाबा सर्विस के लिए जो डायरेक्शन देते हैं, उस पर ध्यान देना है। बाबा कहते हैं बैजेस किस्म-किस्म के लाखों बनाओ। ट्रेन की टिकेट लेकर 100 माइल तक सर्विस करके आओ। एक डिब्बे से दूसरे में, फिर तीसरे में, बहुत सहज है। बच्चों को सर्विस का शौक रहना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विचार सागर मंथन कर अच्छे-अच्छे रत्न निकालने हैं, कमाई जमा करनी है। सच्चा-सच्चा खुदाई खिदमतगार बन सेवा करनी है।

2) पढ़ाई का बहुत शौक रखना है। जब भी समय मिले एकान्त में चले जाना है। ऐसा अभ्यास हो जो जीते जी इस शरीर से मरे हुए हैं, इस स्टेज का अनुभव होता रहे। देह का भान भी भूल जाए।

वरदान:- भिन्नता को मिटाकर एकता लाने वाले सच्चे सेवाधारी भव
ब्राह्मण परिवार की विशेषता है अनेक होते भी एक। आपकी एकता द्वारा ही सारे विश्व में एक धर्म, एक राज्य की स्थापना होती है इसलिए विशेष अटेन्शन देकर भिन्नता को मिटाओ और एकता को लाओ तब कहेंगे सच्चे सेवाधारी। सेवाधारी स्वयं प्रति नहीं लेकिन सेवा प्रति होते हैं। स्वयं का सब कुछ सेवा प्रति स्वाहा करते हैं, जैसे साकार बाप ने सेवा में हड्डियां भी स्वाहा की ऐसे आपकी हर कर्मेन्द्रिय द्वारा सेवा होती रहे।
स्लोगन:- परमात्म प्यार में खो जाओ तो दु:खों की दुनिया भूल जायेगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 October 2019

To Read Murli 4 October 2019:- Click Here
05-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आया है तुम्हें गुल-गुल (फूल) बनाने, तुम फूल बच्चे कभी किसी को दु:ख नहीं दे सकते, सदा सुख देते रहो”
प्रश्नः- किस एक बात में तुम बच्चों को बहुत-बहुत खबरदारी रखनी है?
उत्तर:- मन्सा-वाचा-कर्मणा अपनी जबान पर बड़ी खबरदारी रखनी है। बुद्धि से विकारी दुनिया की सब लोकलाज कुल की मर्यादायें भूलनी है। अपनी जांच करनी है कि हमने कितने दिव्यगुण धारण किये हैं? लक्ष्मी-नारायण जैसे सिविलाइज्ड बने हैं? कहाँ तक गुल-गुल (फूल) बने हैं?

ओम शान्ति। शिवबाबा जानते हैं यह हमारे बच्चे आत्मायें है। तुम बच्चों को आत्मा समझ शरीर को भूल शिवबाबा को याद करना है। शिवबाबा कहते हैं मैं तुम बच्चों को पढ़ाता हूँ। शिवबाबा भी निराकार है, तुम आत्मायें भी निराकार हो। यहाँ आकर पार्ट बजाते हो। बाप भी आकर पार्ट बजाते हैं। यह भी तुम जानते हो ड्रामा प्लैन अनुसार बाप हमको आकर गुल-गुल बनाते हैं। तो सब अवगुणों को छोड़ गुणवान बनना चाहिए। गुणवान कभी किसको दु:ख नहीं देते। सुना-अनसुना नहीं करते। कोई दु:खी है तो उसका दु:ख दूर करते हैं। बाप भी आते हैं तो सारी दुनिया के दु:ख जरूर दूर होने हैं। बाप तो श्रीमत देते हैं, जितना हो सके पुरू-षार्थ कर सभी के दु:ख दूर करते रहो। पुरूषार्थ से ही अच्छा पद मिलेगा। पुरूषार्थ न करने से पद कम हो जायेगा। वह फिर कल्प-कल्पान्तर का घाटा पड़ जाता है। बाप बच्चों को हर बात समझाते हैं। बच्चे अपने को घाटा डालें – यह बाप नहीं चाहता। दुनिया वाले फायदे और घाटे को नहीं जानते इसलिए बच्चों को अपने पर रहम करना है। श्रीमत पर चलते रहना है। भल बुद्धि इधर-उधर भागती है तो भी कोशिश करो हम ऐसे बेहद के बाप को क्यों नहीं याद करते हैं, जिस याद से ही ऊंच पद मिलता है। कम से कम स्वर्ग में तो जाते हैं। परन्तु स्वर्ग में ऊंच पद पाना है। बच्चों के माँ-बाप कहते हैं ना – हमारा बच्चा स्कूल में पढ़कर ऊंच पद पाये। यहाँ तो किसको भी पता नहीं पड़ता। तुम्हारे सम्बन्धी यह नहीं जानते कि तुम क्या पढ़ाई पढ़ते हो। उस पढ़ाई में तो मित्र-सम्बन्धी सब जानते हैं, इसमें कोई जानते हैं, कोई नहीं जानते हैं। कोई का बाप जानता है तो भाई-बहन नहीं जानते। कोई की माँ जानती है तो बाप नहीं जानता क्योंकि यह विचित्र पढ़ाई और विचित्र पढ़ाने वाला है। नम्बरवार समझते हैं, बाप समझाते हैं भक्ति तो तुमने बहुत की है। सो भी नम्बरवार, जिन्होंने बहुत भक्ति की है वही फिर यह ज्ञान भी लेते हैं। अब भक्ति की रस्म-रिवाज पूरी होती है। आगे मीरा के लिए कहा जाता था उसने लोकलाज कुल की मर्यादा छोड़ी। यहाँ तो तुमको सारे विकारी कुल की मर्यादा छोड़नी है। बुद्धि से सबका सन्यास करना है। इस विकारी दुनिया का कुछ भी अच्छा नहीं लगता है। विकर्म करने वाले बिल्कुल अच्छे नहीं लगते हैं। वह अपनी ही तकदीर को खराब करते हैं। ऐसा कोई बाप थोड़ेही होगा जो बच्चों को किसको तंग करता हुआ पसन्द करेगा वा न पढ़ता पसन्द करेगा। तुम बच्चे जानते हो वहाँ ऐसे कोई बच्चे होते नहीं। नाम ही है देवी-देवता। कितना पवित्र नाम है। अपनी जांच करनी है – हमारे में दैवी-गुण हैं? सहनशील भी बनना होता है। बुद्धियोग की बात है। यह लड़ाई तो बहुत मीठी है। बाप को याद करने में कोई लड़ाई की बात नहीं है। बाकी हाँ, इसमें माया विघ्न डालती है। उनसे सम्भाल करनी होती है। माया पर विजय तो तुमको ही पानी है। तुम जानते हो कल्प-कल्प हम जो कुछ करते आये हैं, बिल्कुल एक्यूरेट वही पुरूषार्थ चलता है जो कल्प-कल्प चलता आया है। तुम जानते हो अभी हम पदमापदम भाग्यशाली बनते हैं फिर सतयुग में अथाह सुखी रहते हैं।

कल्प-कल्प बाप ऐसे ही समझाते हैं। यह कोई नई बात नहीं, यह बहुत पुरानी बात है। बाप तो चाहते हैं बच्चे पूरा गुल-गुल बनें। लौकिक बाप की भी दिल होगी ना – हमारे बच्चे गुल-गुल बनें। पारलौकिक बाप तो आते ही हैं कांटों को फूल बनाने। तो ऐसा बनना चाहिए ना। मन्सा-वाचा-कर्मणा जबान पर भी बहुत खबरदारी चाहिए। हर एक कर्मेन्द्रिय पर बड़ी खबरदारी चाहिए। माया बहुत धोखा देने वाली है। उनसे पूरी सम्भाल रखनी है, बड़ी मंजिल है। आधाकल्प से क्रिमिनल दृष्टि बनी है। उनको एक जन्म में सिविल बनाना है। जैसे इन लक्ष्मी-नारायण की है। यह सर्वगुण सम्पन्न हैं ना। वहाँ क्रिमिनल दृष्टि होती नहीं। रावण ही नहीं। यह कोई नई बात नहीं। तुमने अनेक बार यह पद पाया है। दुनिया को तो बिल्कुल पता नहीं है कि यह क्या पढ़ते हैं। बाप तुम्हारी सब आशायें पूर्ण करने आते हैं। अशुभ आशायें रावण की होती हैं। तुम्हारी हैं शुभ आशायें। क्रिमिनल कोई भी आश नहीं होनी चाहिए। बच्चों को सुख की लहरों में लहराना है। तुम्हारे अथाह सुखों का वर्णन नहीं कर सकते, दु:खों का वर्णन होता है, सुख का वर्णन थोड़ेही होता है। तुम सब बच्चों की एक ही आशा है कि हम पावन बनें। कैसे पावन बनेंगे? सो तो तुम जानते हो कि पावन बनाने वाला एक बाप ही है, उसकी याद से ही पावन बनेंगे। फर्स्ट नम्बर नई दुनिया में पावन यह देवी-देवता ही हैं। पावन बनने में देखो ताकत कितनी है। तुम पावन बन पावन दुनिया का राज्य पाते हो इसलिए कहा जाता है इस देवता धर्म में ताकत बहुत है। यह ताकत कहाँ से मिलती है? सर्वशक्तिमान् बाप से। घर-घर में तुम मुख्य दो-चार चित्र रख बहुत सर्विस कर सकते हो। वह समय आयेगा, करफ्यू आदि ऐसे लग जायेगा, जो तुम कहाँ आ जा भी नहीं सकेंगे।

तुम हो ब्राह्मण सच्ची गीता सुनाने वाले। नॉलेज तो बड़ी सहज है, जिनके घर वाले सब आते हैं, शान्ति लगी पड़ी हैं, उन्हों के लिए तो बहुत सहज है। दो-चार मुख्य चित्र घर में रखे हो। यह त्रिमूर्ति, गोला, झाड़ और सीढ़ी का चित्र भी काफी है। उनके साथ गीता का भगवान कृष्ण नहीं, वह भी चित्र अच्छा है। कितना सहज है, इनमें कोई पैसा खर्च नहीं होता। चित्र तो रखे हैं। चित्रों को देखने से ही ज्ञान स्मृति में आता रहेगा। कोठरी बनी पड़ी हो, उसमें भल तुम सो भी जाओ। अगर श्रीमत पर चलते रहो तो तुम बहुतों का कल्याण कर सकते हो। कल्याण करते भी होंगे फिर भी बाप रिमाइन्ड कराते हैं – ऐसे-ऐसे तुम कर सकते हो। ठाकुरजी की मूर्ति रखते हैं ना। इसमें तो फिर है समझाने की बातें। जन्म-जन्मान्तर तुम भक्ति मार्ग में मन्दिरों में भटकते रहते हो परन्तु यह पता नहीं है कि यह हैं कौन? मन्दिरों में देवियों की पूजा करते हैं, उनको ही फिर पानी में जाकर डुबोते हैं। कितना अज्ञान है। पूज्य की, पूजा कर फिर उनको उठाकर समुद्र में डाल देते हैं। गणेश को, माँ को, सरस्वती को भी डुबोते हैं। बाप बैठ बच्चों को कल्प-कल्प यह बातें समझाते हैं। रियलाइज़ कराते हैं – तुम यह क्या कर रहे हो! बच्चों को तो ऩफरत आनी चाहिए जबकि बाप इतना समझाते रहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, तुम यह क्या करते हो! इनको कहते ही हैं विषय वैतरणी नदी। ऐसे नहीं, वहाँ कोई क्षीर का सागर है परन्तु हर चीज़ वहाँ ढेर होती है। कोई चीज़ पर पैसे नहीं लगते। पैसे तो वहाँ होते ही नहीं हैं। सोने के ही सिक्के देखने में आते हैं जबकि मकानों में ही सोना लगता है, सोने की इंटें लगती हैं। तो सिद्ध होता है वहाँ सोने-चांदी का मूल्य ही नहीं। यहाँ तो देखो कितना मूल्य है। तुम जानते हो एक-एक बात में वन्डर है। मनुष्य तो मनुष्य ही हैं, यह देवता भी मनुष्य हैं परन्तु इनका नाम देवता है। इन्हों के आगे मनुष्य अपनी गंदगी जाहिर करते हैं – हम पापी नींच हैं, हमारे में कोई गुण नहीं हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में एम आब्जेक्ट है, हम यह मनुष्य से देवता बनते हैं। देवताओं में दैवीगुण हैं। यह तो समझते हैं मन्दिरों में जाते हैं परन्तु यह नहीं समझते कि यह भी मनुष्य ही हैं। हम भी मनुष्य हैं परन्तु यह दैवीगुण वाले हैं, हम आसुरी गुणों वाले हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में आता है हम कितने ना-लायक थे। इन्हों के आगे जाकर गाते थे आप सर्वगुण सम्पन्न…… अभी बाप समझाते हैं यह तो पास्ट होकर गये हैं। इनमें दैवीगुण थे, अथाह सुख थे। वही फिर अथाह दु:खी बने हैं। इस समय सभी में 5 विकारों की प्रवेशता है। अभी तुम विचार करते हो, कैसे हम ऊपर से गिरते-गिरते एकदम पट आकर पड़े हैं। भारतवासी कितने साहूकार थे। अभी तो देखो कर्जा उठाते रहते हैं। तो यह सब बातें बाप ही बैठ समझाते हैं और कोई बता न सके। ऋषि-मुनि भी नेती-नेती कहते थे अर्थात् हम नहीं जानते। अभी तुम समझते हो वह तो सच कहते थे। न बाप को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते थे। अभी भी कोई नहीं जानते हैं, सिवाए तुम बच्चों के। बड़े-बड़े सन्यासी, महात्मायें कोई नहीं जानते। वास्तव में महान आत्मा तो यह लक्ष्मी-नारायण हैं ना। एवर प्योर हैं। यह भी नहीं जानते थे तो और कोई कैसे जान सकते, कितनी सिम्पुल बातें बाप समझाते हैं परन्तु कई बच्चे भूल जाते हैं। कई अच्छी रीति गुण धारण करते हैं तो मीठे लगते हैं। जितना बच्चों में मीठा गुण देखते हैं तो दिल खुश होती है। कोई तो नाम बदनाम कर देते हैं। यहाँ तो फिर बाप टीचर सतगुरू है – तीनों की निंदा कराते हैं। सत बाप, सत टीचर और सतगुरू की निंदा कराने से फिर ट्रिबल दण्ड पड़ जाता है। परन्तु कई बच्चों में कुछ भी समझ नहीं है। बाप समझाते हैं ऐसे भी होंगे जरूर। माया भी कोई कम नहीं है। आधाकल्प पाप आत्मा बनाती है। बाप फिर आधाकल्प के लिए पुण्य आत्मा बनाते हैं। वह भी नम्बरवार बनते हैं। बनाने वाले भी दो हैं – राम और रावण। राम को परमात्मा कहते हैं। राम-राम कह फिर पिछाड़ी में शिव को नमस्कार करते हैं। वही परमात्मा है। परमात्मा के नाम गिनते हैं। तुमको तो गिनती की दरकार नहीं। यह लक्ष्मी-नारायण पवित्र थे ना। इन्हों की दुनिया थी, जो पास्ट हो गयी है। उसको स्वर्ग नई दुनिया कहा जाता है। फिर जैसे पुराना मकान होता है तो टूटने लायक बन जाता है। यह दुनिया भी ऐसे है। अभी है कलियुग की पिछाड़ी। कितनी सहज बाते हैं समझने की। धारण करनी और करानी है। बाप तो सबको समझाने के लिए नहीं जायेंगे। तुम बच्चे आन गॉडली सर्विस हो। बाप जो सर्विस सिखलाते हैं, वही सर्विस करनी है। तुम्हारी है गॉडली सर्विस ओनली। तुम्हारा नाम ऊंच करने लिए बाबा ने कलष तुम माताओं को दिया है। ऐसे नहीं कि पुरूषों को नहीं मिलता है। मिलता तो सबको है। अभी तुम बच्चे जानते हो हम कितने सुखी स्वर्गवासी थे, वहाँ कोई दु:खी नहीं थे। अभी है संगमयुग फिर हम उस नई दुनिया के मालिक बन रहे हैं। अभी है कलियुग पुरानी पतित दुनिया। बिल्कुल ही जैसे भैंस बुद्धि मनुष्य हैं। अभी तो इन सब बातों को भूलना पड़ता है। देह सहित देह के सब सम्बन्धों को छोड़ अपने को आत्मा समझना है। शरीर में आत्मा नहीं है तो शरीर कुछ भी कर न सके। उस शरीर पर कितना मोह रखते हैं, शरीर जल गया, आत्मा ने जाकर दूसरा शरीर लिया तो भी 12 मास जैसे हाय हुसेन मचाते रहते हैं। अभी तुम्हारी आत्मा शरीर छोड़ेगी तो जरूर ऊंच घर में जन्म लेगी नम्बर-वार। थोड़े ज्ञान वाला साधारण कुल में जन्म लेगा, ऊंच ज्ञान वाला ऊंच कुल में जन्म लेगा। वहाँ सुख भी बहुत होता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सुनाते हैं उसे सुना-अनसुना नहीं करना है। गुणवान बन सबको सुख देना है। पुरूषार्थ कर सबके दु:ख दूर करने हैं।

2) विकारों के वश होकर कोई भी विकर्म नहीं करना है। सहनशील बनना है। कोई भी क्रिमिनल (अशुद्ध-विकारी) आश नहीं रखनी है।

वरदान:- मैं पन को “बाबा” में समा देने वाले निरन्तर योगी, सहजयोगी भव
जिन बच्चों का बाप से हर श्वांस में प्यार है, हर श्वांस में बाबा-बाबा है। उन्हें योग की मेहनत नहीं करनी पड़ती है। याद का प्रूफ है – कभी मुख से “मैं” शब्द नहीं निकल सकता। बाबा-बाबा ही निकलेगा। “मैं पन” बाबा में समा जाए। बाबा बैंकबोन है, बाबा ने कराया, बाबा सदा साथ है, तुम्हीं साथ रहना, खाना, चलना, फिरना…यह इमर्ज रूप में स्मृति रहे तब कहेंगे सहज-योगी।
स्लोगन:- मैं – मैं करना माना माया रूपी बिल्ली का आह्वान करना।

TODAY MURLI 5 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 4 October 2019:- Click Here

05/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to make you beautiful (like flowers). You children who are flowers can never cause anyone sorrow. Always continue to give happiness.
Question: In which one thing do you children have to remain very cautious?
Answer: Be very cautious in your interaction with regard to your thoughts, words and deeds. Your intellects have to forget all your fear of people’s opinions and what they would say and the codes of conduct of the vicious world. Check yourself: How many divine virtues have I imbibed? Have I become as civilised as Lakshmi and Narayan? To what extent have I become beautiful (like a flower)?

Om shanti. Shiv Baba knows that you, His children, are souls. You children have to consider yourselves to be souls; you have to forget your bodies and remember Shiv Baba. Shiv Baba says: I teach you children. Shiv Baba is incorporeal and you souls are also incorporeal. You come here to play your parts. The Father also comes to play His part. You know that, according to the dramaplan, the Father comes and makes you beautiful. Therefore, you have to renounce all defects and become virtuous. Those who are virtuous never give anyone sorrow. They do not ignore what they have been told. They remove the sorrow of anyone who is experiencing sorrow. When the Father comes, the sorrow of the whole world is definitely removed. The Father gives you shrimat: Make as much effort as possible and continue to remove everyone’s sorrow. Only by making effort will you receive a good status. By not making effort, your status will be reduced. That will then become a loss for cycle after cycle. The Father explains everything to you children. The Father doesn’t want you children to incur any loss. People of the world don’t know about profit and loss and, therefore, you children have to have mercy for yourselves. You have to continue to follow shrimat. Although your intellects wander here and there, try and check why you do not remember such an unlimited Father. It is only by having this remembrance that you receive a high status. You will at least go to heaven, but you have to claim a high status in heaven. Some children’s parents say: Our children should study in school and claim a high status. Here, no one knows anything. Your relatives don’t know what study it is that you are studying. In those studies, all your friends and relatives know everything. Here, some know and others don’t know. Someone’s father would know about this, but his brothers and sisters might not know. Someone’s mother would know about this, but the father might not because this study and the One who is teaching you this study are unique. You understand, numberwise. The Father explains that you have done a great deal of devotion and that too is numberwise. It is those who have done a lot of devotion who then take this knowledge. The systems and customs of devotion are now coming to an end. Previously, it used to be said of Meera that she renounced the opinions of society and the codes of conduct of the family. Here, you have to renounce all the codes of conduct of the vicious clan. You have to discard everything from your intellects. You don’t like anything of this vicious world. Those who perform sinful actions are not liked at all; they spoil their own fortune. There wouldn’t be any father who would like his children to disturb others or not study. You children know that there are no such children there. Their very name is deities. It is such a pure name! You have to check yourself: Do I have divine virtues in me? You also have to be tolerant. It is a matter of the intellect’s yoga. This battle is very sweet. There is no question of a battle in remembering the Father, but yes, Maya does cause obstacles in this. You have to be very cautious about her. You have to gain victory over Maya. You know that whatever you have been doing every cycle, the very same accurate effort that you made every cycle is being made now. You know that we are now becoming multimillion times fortunate and then, in the golden age, we will be very happy. The Father explains in this way every cycle. This is not something new, this is something very old. The Father wants the children to become absolutely beautiful. A physical father would also want his children to become beautiful. The parlokik Father comes to change thorns into flowers. Therefore, you have to become like that. You have to be very cautious in respect to your thoughts, words and deeds about your interaction. You have to be very cautious with every physical organ. Maya is very deceitful. You have to be very careful of her. The destination is very high. For half the cycle, your vision has been criminal. It has to be made civil in one birth just like the vision Lakshmi and Narayan have. They are full of all virtues. There is no criminal vision there. Ravan himself doesn’t exist there. This is not anything new. You have claimed that status many times before. The world doesn’t know anything at all about what you are studying. The Father comes to fulfil all your desires. Impure desires are Ravan’s. Your desires are pure. You mustn’t have any criminal desires. You children have to move along with waves of happiness. No one can speak about your abundance of happiness; they do speak about sorrow; they don’t speak about happiness. You children only have one desire and that is to become pure. How will you become pure? You know that the Father alone is the Purifier. You will be purified by having remembrance of Him. The first number pure souls in the new world are these deities. Look how much power you gain by becoming pure. You become pure and attain the kingdom of the pure world. This is why it is said that there is a lot of power in that deity religion. From where do they receive this power? From the Almighty Authority Father. You can have two to four main pictures in your homes and do a lot of service with them. The time will come when there will be curfews so that you won’t be able to go anywhere. You are Brahmins who relate the true Gita. Knowledge is very easy. There is a lot of peace in a home where the entire family is in knowledge. It is very easy for them. Let there be two to four main pictures placed in your homes. The pictures of the Trimurti, the cycle, the tree and the ladder are enough. Together with those, also have the poster which shows that the God of the Gita is not Krishna; that poster too is good. It is so easy! There is no question of spending money in this. You have the pictures. By looking at the pictures, knowledge enters your awareness. You can just have a small room in which you can also sleep. If you continue to follow shrimat, you can benefit many. You may be bringing benefit but, nevertheless, the Father continues to remind you: You can do this and this. People keep an idol of Thakurji (Idol of baby Krishna). Here, there are also things to be explained. For birth after birth, you continue to wander around the temples on the path of devotion, but you don’t know who they are. People worship the deity idols in the temples, and then they go and sink them (the idols) in the water. There is so much ignorance! They worship those who are worthy of worship and then take those idols and put them in the sea. They even sink Ganesh, the goddesses and Saraswati. The Father sits here and explains to you children every cycle. He makes you realize what you were doing. You children should have dislike especially since the Father continues to explain so much and says: Sweetest children, what are you doing? This is called the river of poison. It isn’t that there is an ocean of milk there, but everything there is plentiful. Nothing costs money. In fact, there is no paper money there. You only see gold coins everywhere and even the buildings are of gold; the bricks are of gold. So, this proves that gold and silver have no value there. Here, they have so much value. You know that there is wonder in everything. Human beings are human beings; even those deities were human beings, but they are called deities. People go and confess their own dirty habits in front of them (Idols): We are degraded sinners; we have no virtues. You children have an aim and objective in your intellects: We are changing from human beings into deities. Deities have divine virtues. You know that people go to the temples, but they don’t understand that they (deities) were also human beings. We too are human beings. However, they had divine virtues; we are those with devilish traits. It now enters your intellects how unworthy you were. You used to go in front of them (the idols) and sing: You are full of all virtues. The Father now explains: They existed in the past. They had divine virtues and an abundance of happiness. They have now become extremely unhappy. At this time, the five vices exist in everyone. You now wonder at how you continued to fall from the top and have reached right to the ground. The people of Bharat were so wealthy. People now continue to accumulate so much debt. Only the Father sits here and explains all of these things. No one else can explain this to you. Rishis and munis also used to say, “Neither this nor that (neti neti)”. You now understand that they told the truth: they neither knew the Father nor the beginning, middle or end of creation. Even now, no one, apart from you children, knows this. Even great sannyasis and great souls do not know. In fact, it is this Lakshmi and Narayan who are the great souls; they are everpure. Even they didn’t know, so how could anyone else know? The Father explains such simple things, but some children forget. Those who imbibe divine virtues very well are found to be so sweet. The more sweet virtues are seen in you children, the happier the heart becomes. Some even defame the name. Here, they defame all three: the Father, the Teacher and the Satguru. By defaming the true Father, the true Teacher and the Satguru, triple punishment is accumulated. However, some children don’t have any understanding at all. The Father explains that there definitely will be some of those. Maya is no less either. She makes you into sinful souls for half the cycle. The Father then makes you into pure and charitable souls for half the cycle. You become that, numberwise. The ones who make you this are two: Rama and Ravan. Rama is called the Supreme Soul. People chant the name of Rama and then, at the end, they give salutations to Shiva. He alone is the Supreme Soul. They count the names of the Supreme Soul. You don’t have to count anything. This Lakshmi and Narayan were pure. It used to be their world; that has now become the past. That was called heaven, the new world. When a building becomes old, it is only worth demolishing. This world is also like that. It is now the end of the iron age. These are such easy things to understand. You have to imbibe these things and enable others to imbibe them. The Father will not go to everyone to explain to them. You children are on Godly service. You only have to do the service that the Father teaches you. Yours is only Godly service. Baba has given you mothers the urn of knowledge in order to make your name elevated. It isn’t that the men don’t receive this; everyone receives it. You children now know how you were the happy residents of heaven. There was no one unhappy there. It is now the confluence age and we are becoming the masters of that new world. It is now the iron age, the old impure world. It is as though human beings have become those with completely ox-intellects. All of those things now have to be forgotten. Forget your body and all bodily relations and consider yourself to be a soul. When there isn’t a soul in a body, the body cannot do anything. People have so much attachment to their bodies. The body has been burnt, the soul has gone and taken another body but, in spite of that, they continue to cry out in distress for 12 months. Now, when you souls shed your bodies, you will definitely take birth in high families, numberwise. Those who only have a little knowledge will take birth in ordinary families. Those who have elevated knowledge will take birth in elevated families. There is a lot of happiness there. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not hear but not hear what the Father tells you. Become virtuous and give everyone happiness. Make effort and remove everyone’s sorrow.
  2. Do not be influenced by vices and thereby perform sinful acts. Become tolerant. Do not have any criminal desires.
Blessing: May you be a constant yogi and an easy yogi who merges the consciousness of “I” in “Baba”.
Those children who have love for the Father in their every breath, who have only “Baba, Baba” in their every breath do not have to work hard for yoga. The proof of them having remembrance is that the word “I” never emerges from their lips. Only “Baba, Baba” emerges. The consciousness of “I” is merged in Baba. Baba is the backbone, Baba inspired you, Baba is always with you. “To be with You, to eat with You, to walk and move around with You”: When this awareness has emerged in your form you will be said to be an easy yogi.
Slogan: To say “me, me” (Miaow) means to invoke Maya, the cat.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 5 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 October 2018 :- Click Here

05/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never miss the study. There will be an interest in studying when there is unbroken faith in the Father who is teaching you. Only the children whose intellects have faith are able to do service.
Question: On hearing what news of the children does BapDada become very pleased?
Answer: When children write their service news: “Baba, today I explained to so-and-so and gave him the introduction of the two fathers and did this type of service,” Baba becomes very pleased to read such letters. Baba’s stomach doesn’t become full on receiving letters of just love and remembrance and your well-being. Baba is pleased to see His helper children. This is why you should do service and write that news to Baba.
Song: Come mother, let us go. 

Om shanti. You children know that you have to go from the world of thorns to the world of flowers. The golden-aged world would be called one of divine flowers. In the iron age, human beings are like thorns. They distress and continue to cause sorrow for one another. You children are now happy: Come, let us now go to our land of happiness, of divine flowers. You also have to understand the secret of how you go there. You will go there when you study very well. First of all, you need to have faith as to who it is who is teaching you. These things are not written in the Vedas or scriptures, although Raja Yoga is mentioned in the Gita. There is the study for a kingdom and so, surely, the kingdom would be given in the golden age. First of all, there has to be faith in the One who is teaching you. That One is not a sage, holy man or human being. That One is the Incorporeal. The Father of all souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. Only those who are to have faith as they did in the previous cycle will have that faith. You can see that, in order to go to the heavenly world of flowers, each one of you has to make your own effort. Only when you first have this faith will you engage yourselves immediately in the study. They have written in the scriptures: God Krishna speaks. Together with that, they have also written: The sacrificial fire of the knowledge of Rudra. These are matters of knowledge. People have then given a bamboo flute to Krishna. There is also the praise: There is Godly magic in your flute. There cannot be Godly magic in a bamboo flute. That murli can be played with the mouth. They only show the childhood of Krishna, and how they play games among themselves. These things are worth understanding. You children have understood that this truly is Raja Yoga, that is, it is yoga with the One who teaches you the study of how to claim the kingdom. He personally comes here and teaches you. There is no question of a bamboo flute in this. These things are unique. No one knows that incorporeal God, Himself, comes and teaches us. They say of Krishna too, that there is Godly magic in his flute. So Khuda (God) must be someone else. Krishna would not be called Khuda. Khuda is Khuda; He alone is called the Magician. The Magician Himself comes and shows you His magic and grants you visions. Even then, He teaches you to claim a high status. Meera too saw Paradise and danced there, but she didn’t study Raja Yoga. The things of Raja Yoga are not mentioned in any of the scriptures. There was no one to teach Meera. Meera’s name is mentioned in the rosary of devotees. This is the rosary of knowledge; there is the difference of day and night. You have understood that you will become elevated to the extent that you take knowledge. There truly is also the rosary of devotees and that is numberwise. Their names are very well known. No one has this knowledge. So you should explain to them: It is the Father who is the Authority who gives you this knowledge. It is said of Him that He created Brahmins through the lotus mouth of Brahma and told them the essence of all the Vedas and scriptures. Because Shiv Baba is incorporeal, so He explains the scriptures through Brahma. This method has been created. However, it is only that One who explains all of these things. It is shown that all the essence is related through Brahma, and so there must surely be someone else who explains all of this. You are now seeing in a practical way that Shiv Baba, who is the Ocean of Knowledge, is also our Baba and that He is now personally sitting in front of you. He only comes in Bharat and He definitely enters someone’s body. It is the body of Brahma. It is necessary for there to be Prajapita Brahma. The Father truly comes and establishes the Brahmin religion through Prajapita Brahma. How is the religion created? You know this too. You are the children of Brahma in a practical way. You say that you are Brahmins and that you are claiming your inheritance from the Father. Followers can never claim the inheritance. It is children who claim the inheritance from the Father. You have come and become His unlimited children. They are said to be followers of Christ, not his children. Buddha and Guru Nanak also have followers and not children. Here, you are children. Prajapita is the father and Shiv Baba is also the Father. That One is incorporeal and this one, the corporeal one, is separate. Shiv Baba has created you children through this corporeal one. Among you too, some have firm faith, whereas others don’t. The lottery is very big. You have to act for the livelihood of your bodies and also study this knowledge. You have to make a lot of effort in those studies. Here, too, the Father says: Definitely study for an hour or half an hour. Achcha, if, for any reason, you cannot study every day, first study for seven days and then continue your studies on the basis of the murli. Once you have understood the aim, you then have to understand the branches, twigs, leaves etc. All of those are included in the cycle. The secret of 84 births has also been explained to you. The picture of the tree has the details whereas the picture of the cycle shows everything in a nutshell. It is also explained to you that these are the religions of the variety human world. At first there is one religion and then expansion takes place. How the foundation emerges is also shown in the tree. This is such an easy secret. You have to understand the dramaand the tree. Your intellect should imbibe this and then you explain to others. You definitely have to explain the point of the two fathers. You receive self-sovereignty from the unlimited Father and you therefore definitely have to study Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes heaven, and that is also called the land of Krishna. The land of Krishna cannot be established in the land of Kans (the devil), and this is why there is the confluence age. This is the confluence age for you children whereas for everyone else it is the iron age. You are the only ones who will go from the confluence age to the golden age. You have to have this faith. We are now at the confluence age. If you remember the confluence age, you will also remember the golden age and also the Father who establishes the golden age. However, you repeatedly forget this. You understand that you are now at the confluence age. The unlimited Father comes at the confluence age of the cycle. They have made a mistake in the Gita. It is only the Bhagawad and the Mahabharata that have a connection with the Gita. The Father explains: All of you are Sitas and I am Rama. You are in the Lanka of the kingdom of Ravan, not the other Lanka. It isn’t that there was the kingdom of Ravan there. There is no Lanka etc. in the golden age. Over there (in Shri Lanka), they have the Buddhist religion. The Buddhist religion has now spread a lot. It has been explained to you children that Bharat was totally pure; there was peace and happiness. There was just the one deity religion. First of all, there has to be the firm faith that He is our unlimited Father and that we have to claim our inheritance from Him. You must never miss out on making effort. How can you make effort if you don’t have faith? It is certain that the Father is teaching us and that we are receiving our inheritance of heaven and constant happiness from Him. You would not sit in a school without faith or an aim and objective, would you? There are many subjects there and so there is a margin. Here, there is just the one subject. Such a big kingdom is established through just the one subject. Those who don’t study will have to bow down in front of those who did study. Among the subjects too, those with a low status will have to bow down in front of the good subjects. The subjects are also numberwise. Some are poor and others are wealthy; one cannot be the same as another. Such is this drama! The features of all human beings are fixed in the drama for them to play their parts. These are such deep matters. They have to be imbibed and explained accurately. Not everyone can explain them. Such good things are explained to you. There is victory through faith. Only when there is faith will you study. The intellects of some develop doubt and they stop studying. Maya is so great that she immediately creates storms and brings doubts. Those whose intellects have doubt are led to destruction. Those who ascend taste the nectar of heaven, whereas those who fall are totally crushed to pieces. There is a lot of difference. If someone falls, he becomes a cremator whereas if he ascends, he becomes an emperor. Everything depends on how you study. Did you ever hear before how the Incorporeal becomes the Teacher? You are now listening to Shiv Baba. You have the faith that I am your Father, the Purifier, and also the Knowledgefull One. You have to have the faith that you have to become the rulers of the globe through this knowledge. It is in your having faith that Maya creates obstacles. Your enemy is standing in front of you. You know that Maya is your enemy. She repeatedly deceives you. She makes you have doubts in the study. Many children develop doubts and then stop studying. When you stop studying, it means that you leave the Father, Teacher and Satguru. Those gurus continue to change. They have many gurus. This One is the only Satguru. This One doesn’t praise Himself. The Father gives His own introduction. Devotees sing: Salutations to Shiva. You are the Mother and Father. However, they don’t know anything. They simply continue to say this and to worship Him. You now know who Shiva is. After Shiva, there is Brahma and Saraswati. Lakshmi and Narayan come after them. First is Shiv Baba and then Brahma, Vishnu and Shankar. The Father says: I first of all enter Brahma. I create him first. Establishment takes place through Brahma and then Brahma becomes Vishnu and sustains it. You should note down all of these points, and you should then try and explain them to others. Some explain very well. It is a completely different matter for Baba. Sometimes, Shiv Baba explains and sometimes this one explains. You must always think that it is Shiv Baba who is explaining to you. Your sins are absolved by remembering Shiv Baba. Just consider it to be Shiv Baba who is giving you new points through this one. He explains with great tact. So you children should also understand. First of all, you have to have faith. Even in seven days someone can be coloured very well. However, Maya too is very clever. First of all, there has to be the faith that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator of heaven, and so He would surely have taught us Raja Yoga. Krishna cannot teach it. He has to come in the golden age. Shiv Baba is the Creator of heaven. Someone may say that He entered the body of Krishna. However, Krishna cannot come in that form at this time. He has to come in the golden age. Baba doesn’t take birth through anyone’s womb. He enters the body of this one and gives his introduction as to why He named him Brahma. He plays his part from the beginning to the end. You too were given very good names. So many children’s names came. It was a wonder that the names of 200 to 250 names came instantly. Even the Brahmins here cannot give that many names. The trance messenger instantly brought those names. The unlimited Father gave you those names. It was a wonder. The Father is wonderful and your aim and objective is wonderful. You will become the kings of kings. The picture of Lakshmi and Narayan is very clear. Above them, the picture of the Trimurti is very accurate. They definitely have to take 84 births. At the end of the iron age, they are impure and at the beginning of the golden age, they are pure. You children have to give the proof of your service: Baba, we have also had these small leaflets printed. At the top should be Shiva and then the introduction of the Trimurti and the two fathers. This point should definitely be there. Have such leaflets printed, do a lot of service and give Baba the news, for only then will you be able to climb into the Father’s heart. Don’t just write a letter about your well being to Baba, but do service and write that service news: Baba, I did this and this service. Baba’s stomach will not become full by your just sending your love and remembrance. Today, I explained to so-and-so. Today, I served my husband and he became very happy. You should write news of such service to Baba. The point of the two fathers is the main one. The unlimited Father is the One who gives you your fortune of the kingdom of heaven. You are such sweet children. The Father explains: All of you are adopted children. All of you many children can only be adopted children. Those people are followers of that religion. Here, you are children. The Father is also pleased to see such children. All of you are My children. You are now playing the final part. You have become My companions to help Me establish heaven. This is Rudra Shiv Baba’s sacrificial fire of knowledge in which the horse is sacrificed for receiving a kingdom. How does Shiv Baba carry out the establishment of heaven? First of all, He creates the sacrificial fire of the knowledge of Rudra through Brahma and the Brahmins and then heaven is established through them. So, it is surely you Brahmins who have to look after this sacrificial fire. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have faith in the intellect and definitely study. Never have any doubts about any situation. Victory is guaranteed when there is faith.
  2. Become a companion of the Father and a complete helper in establishing heaven. Become a true Brahmin who looks after the sacrificial fire.
Blessing: May you be detached and become immune to bondage with the practice of “coming and going”.
The essence of the whole study and of knowledge is “coming and going”. Your intellects have the happiness of going home and then going into your kingdom. However, only those who constantly practise “coming and going” will go with happiness. Stabilise yourself in the bodiless stage whenever you want and become karmateet whenever you want. The practice of this has to be very strong. For this, let no bondage attract you. It is bondage that makes the soul tight and there is a great pull when trying to take off tight clothes. So, always remain detached, and learn the lesson of being immune to bondage.
Slogan: Keep your account of happiness full and everyone will continue to experience happiness from your every step.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 October 2018

To Read Murli 4 October 2018 :- Click Here
05-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पढ़ाई कभी भी मिस नहीं करना, पढ़ाई का शौक तब रहेगा जब पढ़ाने वाले बाप में अटूट निश्चय होगा, निश्चय बुद्धि बच्चे ही सर्विस कर सकेंगे”
प्रश्नः- बापदादा को बच्चों की कौन-सी बात सुनकर बहुत खुशी होती है?
उत्तर:- जब बच्चे सर्विस समाचार का पत्र लिखते हैं – बाबा, आज हमने फलाने को समझाया, उसको दो बाप का परिचय दिया…. ऐसे-ऐसे सेवा की। तो बाबा उन पत्रों को पढ़कर बहुत खुश होते हैं। याद-प्यार वा खुश ख़ैराफत का पत्र लिखने से बाबा का पेट नहीं भरता। बाबा अपने मददगार बच्चों को देख खुश होते हैं इसलिए सर्विस करके समाचार लिखना है।
गीत:- चलो चले माँ…… 

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कांटों से फूलों की दुनिया में जाना है। सतयुगी दुनिया को दैवी फूल ही कहेंगे। कलियुग में मनुष्य हैं कांटें मिसल। एक-दो को तंग करते, दु:ख देते रहते हैं। तुम बच्चे अब खुश होते हो कि चलो, अब हम अपने उस दैवी फूलों के सुखधाम में चलें। चलने का भी राज़ समझना है। चलेंगे तब, जब अच्छी रीति पढ़ेंगे। पहले तो निश्चय चाहिए – पढ़ाने वाला कौन है? यह बातें कोई वेद-शास्त्र आदि में लिखी हुई नहीं हैं। भल गीता में राजयोग लिखा हुआ है, राजाई के लिए पढ़ाई है तो जरूर राजाई सतयुग में देंगे। पहले तो पढ़ाने वाले का निश्चय चाहिए। यह कोई साधू, सन्त, मनुष्य तो है नहीं। यह तो है निराकार। सब आत्माओं का बाप है – परमपिता परमात्मा। जिन्हों को कल्प पहले मुआफिक निश्चय होना होगा, उन्हों को ही होगा। तुम देखते हो फूलों की दुनिया स्वर्ग में चलने के लिए हरेक का अपना-अपना पुरुषार्थ है। पहले जब निश्चय हो तो झट पढ़ाई में लग पड़े। शास्त्रों में कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है – साथ-साथ लिखा भी है रुद्र ज्ञान यज्ञ। अब यह तो ज्ञान की बातें हो गई। मनुष्यों ने फिर कृष्ण को काठ की मुरली दे दी है। गायन भी है ना तेरी मुरली में जादू है खुदाई। अब काठ की मुरली में तो खुदाई जादू हो न सके। वह तो मुख से मुरली बजा सकते हैं। कृष्ण का बचपन ही दिखाते हैं, आपस में खेलते-कूदते रहते हैं। यह बातें बड़ी समझने लायक हैं। यह तो बच्चे समझ गये हैं कि यह बरोबर राजयोग है अर्थात् राजाई प्राप्त करने की पढ़ाई कराने वाले के साथ योग। वह सम्मुख आकर पढ़ाते हैं। इसमें काठ के मुरली की कोई बात नहीं। यह बातें ही निराली हैं। यह किसको भी पता नहीं है कि निराकार भगवान् स्वयं आकर पढ़ाते हैं। कृष्ण के लिए भी कहते हैं, उनकी मुरली में खुदाई जादू है। तो खुदा और हो गया ना। कृष्ण को खुदा नहीं कहेंगे। खुदा तो खुदा ही है, उनको ही जादूगर कहते हैं। जादूगर स्वयं आकर जादूगरी दिखलाते हैं, साक्षात्कार कराते हैं। फिर भी ऊंच पद प्राप्त कराने लिए पढ़ाते हैं। मीरा ने भी वैकुण्ठ देखा और डांस की, परन्तु वह राजयोग नहीं सीखी। राजयोग की बात कोई भी शास्त्र में नहीं है। मीरा को पढ़ाने वाला तो कोई नहीं था। मीरा का नाम भी भक्त माला में है। यह है ज्ञान माला। रात-दिन का फ़र्क है। तुम समझ गये हो – हम जितना ज्ञान उठायेंगे, उतना ऊंच बनेंगे। बरोबर भक्त माला भी है, उनमें भी नम्बरवार हैं। उन्हों के नाम तो मशहूर हैं। यह ज्ञान कोई में भी नहीं है। तो समझाना चाहिए – यह ज्ञान देने वाला वह अथॉरिटी बाप है, जिसके लिए कहा जाता है ब्रह्मा मुख कमल से ब्राह्मण रच उन्हों को सभी वेदों-शास्त्रों का सार सुनाते हैं। शिवबाबा को तो शास्त्र दे न सकें, क्योंकि वह तो है निराकार। तो ब्रह्मा द्वारा समझाते हैं। यह युक्ति रची है। परन्तु यह सब बातें समझाने वाला वह एक है। दिखलाते भी हैं ब्रह्मा द्वारा सार बतलाते हैं तो जरूर समझाने वाला कोई दूसरा है ना। अभी तुम प्रैक्टिकल में देखते हो शिवबाबा जो ज्ञान सागर है, हमारा बाबा भी है, वह सम्मुख बैठे हैं। भारत में ही आते हैं और जरूर कोई के शरीर में आते हैं। यह ब्रह्मा का शरीर है। प्रजापिता ब्रह्मा होना भी जरूरी है। बरोबर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ही बाप आकर ब्राह्मण धर्म रचते हैं। धर्म कैसे रचा जाता है? यह भी तुम जानते हो। तुम प्रैक्टिकल में ब्रह्मा की सन्तान हो। कहते हो हम ब्राह्मण ब्राह्मणियां हैं। बाप से वर्सा ले रहे हैं। फालोअर तो कभी वर्सा ले न सके। बच्चे ही बाप से वर्सा लेते हैं। तुम आकर बेहद के बच्चे बने हो। क्राइस्ट के फालोअर कहेंगे, बच्चे नहीं। बुद्ध के, गुरुनानक के फालोअर ही कहेंगे, बच्चे नहीं। यहाँ तुम बच्चे हो। प्रजापिता वह भी बाप ठहरा और शिवबाबा भी बाप हो गया। वह निराकार है, यह साकार अलग है। इस साकार द्वारा ही शिवबाबा ने बच्चों को रचा है। अब तुम्हारे में भी कोई को तो पक्का निश्चय है, कोई को नहीं है। लॉटरी है बहुत बड़ी।

तुमको अपने शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है और फिर यह ज्ञान भी सीखना है। उस पढ़ाई में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। यहाँ भी बाप कहते हैं एक घड़ी, आधी घड़ी, पढ़ो जरूर। अच्छा, कोई कारण से रोज़ नहीं पढ़ सकते हो तो पहले 7 रोज़ पढ़कर फिर मुरली के आधार पर चल सकते हो। लक्ष्य पकड़ लिया, बाकी है टाल, डाल, पत्ते आदि को समझना, वह सब भी चक्र में आ जाता है। तुमको 84 जन्मों का राज़ भी समझाया है। झाड़ में डीटेल है, चक्र में नटशेल है। समझाया भी है यह वैराइटी मनुष्य सृष्टि के धर्म हैं। पहले एक धर्म रहता है फिर वृद्धि होती है। झाड़ भी दिखाया है – कैसे फाउन्डेशन निकलता है। कितना सहज राज़ है! ड्रामा और झाड़ को समझना है, बुद्धि में धारण करना है और दूसरों को समझाना है। दो बाप की प्वाइन्ट तो जरूर समझानी है। बेहद के बाप से स्वराज्य मिलता है इसलिए राजयोग जरूर सीखना पड़े। परमपिता परमात्मा ही स्वर्ग की स्थापना करते हैं, जिसको कृष्णपुरी भी कहते हैं। कंसपुरी में तो कृष्णपुरी स्थापन हो न सके, इसलिए संगम रखा हुआ है। तुम बच्चों के लिए यह संगमयुग है, बाकी और सबके लिए कलियुग है। तुम ही संगम से फिर सतयुग में जाने वाले हो, यह निश्चय चाहिए। अभी हम संगम पर हैं। संगमयुग याद रहे तो सतयुग भी याद रहे और सतयुग स्थापन करने वाला भी याद रहे। परन्तु घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। तुम समझते हो अभी हम संगम पर हैं, बेहद का बाप आते ही हैं कल्प के संगमयुगे। गीता में भूल कर दी है। गीता से तैलुक रखने वाले सिर्फ भागवत, महाभारत आदि हैं।

बाप समझाते हैं – तुम सब सीतायें हो, मैं राम हूँ। तुम रावण राज्य रूपी लंका में पड़े हो, वह लंका नहीं। ऐसे नहीं, वहाँ कोई रावण राज्य था। सतयुग में लंका आदि होती नहीं। उस तरफ बौद्ध धर्म है। अभी बौद्ध धर्म बहुत फैला हुआ है। अब यह तो बच्चों को समझाया गया है भारत पहले बिल्कुल पवित्र था, सुख-शान्ति थी, एक ही देवी-देवता धर्म था। पहले-पहले तो यह निश्चय पक्का रहना चाहिए कि यह हमारा बेहद का बाप है, उनसे वर्सा लेना है, पुरुषार्थ में कभी चूकना नहीं है। निश्चय बिगर पुरुषार्थ भी कैसे करेंगे? बाप पढ़ाते हैं, उनसे स्वर्ग का, सदा सुख का वर्सा मिल रहा है, यह तो सर्टेन है। स्कूल में बिगर निश्चय अथवा एम ऑब्जेक्ट थोड़ेही बैठेंगे। वहाँ तो सब्जेक्ट बहुत होती हैं, मार्जिन होती है। यहाँ तो एक ही सब्जेक्ट है। एक ही सब्जेक्ट से कितनी बड़ी राजधानी स्थापन हो जाती है। जो नहीं पढ़ते हैं तो पढ़े हुए के आगे भरी ढोयेंगे। प्रजा में भी जो अच्छी प्रजा होंगे उनके आगे कम दर्जे वाली प्रजा भरी ढोयेगी। प्रजा भी नम्बरवार तो है ना। कोई गरीब, कोई साहूकार, एक न मिले दूसरे से। कैसा यह ड्रामा है! सभी मनुष्यों के फीचर्स ड्रामा में नूँध हैं पार्ट बजाने के लिए। कितनी गुह्य बातें हैं जो धारण कर यथार्थ रीति समझाना है। सब तो नहीं समझा सकते। कितनी अच्छी बातें समझाते हैं। निश्चय में ही विजय है। निश्चय होगा तब ही पढ़ेंगे। कोई तो संशयबुद्धि हो पढ़ाई को छोड़ देते हैं। अहो माया, झट तूफान लगाए संशय में डाल देती है। संशयबुद्धि विनशयन्ती। चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर। फ़र्क तो बहुत है। गिरे तो एकदम चण्डाल, चढ़े तो एकदम बादशाह। सारा पढ़ाई पर मदार है। आगे कभी सुना कि निराकार शिक्षक कैसे होता है! अभी शिवबाबा द्वारा तुम सुनते हो। तुमको निश्चय हुआ है – मैं तुम्हारा बाप हूँ, पतित-पावन भी हूँ, नॉलेजफुल भी कहते हो। नॉलेज से चक्रवर्ती राजा बनना है, यह निश्चय होना चाहिए ना। निश्चय में ही माया विघ्न डालती है। दुश्मन सामने खड़ा है। तुम जानते हो माया हमारी दुश्मन है, घड़ी-घड़ी धोखा देती है, पढ़ाई में संशय डाल देती है। संशय में आकर बहुत बच्चे पढ़ाई को छोड़ देते हैं। पढ़ाई को छोड़ा गोया बाप, टीचर, सतगुरू को भी छोड़ दिया। वह तो गुरू बदलते रहते हैं। अनेक गुरू करते हैं। यह तो एक ही सतगुरू है। यह अपनी महिमा नहीं करते हैं। बाप अपना परिचय देते हैं। भक्त लोग गाते हैं ना शिवाए नम:, तुम मात-पिता…….. लेकिन जानते कुछ भी नहीं, सिर्फ कहते रहते हैं, पूजा करते रहते हैं। तुम अभी जान गये हो शिव कौन है? शिव के बाद फिर आते हैं ब्रह्मा-सरस्वती। लक्ष्मी-नारायण बाद में आते हैं। पहले शिवबाबा फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। बाप कहते हैं मैं पहले-पहले ब्रह्मा में प्रवेश करता हूँ, इनको पहले रचता हूँ। ब्रह्मा द्वारा स्थापना फिर ब्रह्मा ही विष्णु बन पालना करते हैं। यह सब प्वाइन्ट्स नोट करनी चाहिए। फिर किसको समझाने की कोशिश करनी चाहिए। कोई तो बहुत अच्छा समझाते हैं। बाबा की तो बात ही अलग है। कभी शिवबाबा समझाते, कभी यह भी समझाते हैं। तुम हमेशा समझो – शिवबाबा समझाते हैं। शिवबाबा को याद करने से विकर्म विनाश होते हैं। तुम समझो – शिवबाबा इन द्वारा नई-नई प्वाइन्ट्स सुनाते हैं, बड़ा युक्ति से समझाते हैं। तो बच्चों को समझना भी चाहिए। पहले तो निश्चय करना है। 7 रोज़ में भी रंग अच्छा लग सकता है। परन्तु माया भी बहुत तीखी है ना। पहले-पहले तो निश्चय बैठे कि बाप परमपिता परमात्मा स्वर्ग का रचयिता है, तो जरूर उसने ही राजयोग सिखाया होगा। कृष्ण सिखला न सके। उनका आना ही सतयुग में होता है। स्वर्ग का रचयिता शिवबाबा है। अगर कोई कहे कृष्ण के तन में आया परन्तु कृष्ण तो उस रूप में आ न सके। उनका आना ही सतयुग में होता है। बाबा किसी के गर्भ से तो जन्म नहीं लेता। इनके तन में प्रवेश कर इनका भी परिचय देता है कि इनका नाम ब्रह्मा हमने क्यों रखा? यही शुरू से लेकर अन्त तक पार्ट बजाते हैं। तुम्हारे भी बहुत अच्छे-अच्छे नाम रखे थे। कितने बच्चों के नाम आये। वन्डर है ना, फट से दो अढ़ाई सौ के नाम आ गये। इतने नाम तो यहाँ के ब्राह्मण लोग दे न सकें। सन्देशी फट से नाम ले आई। बेहद के बाप ने नाम रखे। वन्डर है। वन्डरफुल बाप, वन्डरफुल एम ऑब्जेक्ट।

तुम सो राजाओं के राजा बनेंगे। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बड़ा क्लीयर है। ऊपर में त्रिमूर्ति का चित्र बड़ा एक्यूरेट है। 84 जन्म भी जरूर लेने हैं। कलियुग का अन्त पतित, सतयुग की आदि पावन। बच्चों को सर्विस का सबूत देना चाहिए – बाबा, हमने भी यह छोटे-छोटे पर्चे छपवाये। ऊपर में शिव, त्रिमूर्ति और दो बाप का परिचय हो। यह प्वाइन्ट जरूर होनी चाहिए। ऐसे-ऐसे पर्चे छपवाकर खूब सर्विस करके समाचार देना चाहिए, तब बाप की दिल पर चढ़ेंगे। चिट्ठी सिर्फ खुश-ख़ैराफत की नहीं, सर्विस करके समाचार लिखना है कि बाबा यह-यह सर्विस की। सिर्फ याद-प्यार लिखने से बाबा का पेट क्या भरेगा। आज फलाने को समझाया, आज पति की सर्विस की, बहुत अच्छा खुश हुआ, ऐसे-ऐसे सर्विस की, समाचार बाबा को लिखना है। दो बाप की प्वाइन्ट मुख्य है। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का राज्य-भाग्य देने वाला। तुम कितने मीठे-मीठे बच्चे हो। बाप समझाते हैं यह सब एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। इतने सब तो धर्म के बच्चे ही हो सकते हैं। वह धर्म के फालोअर्स होते हैं। यहाँ तुम बच्चे हो, बाप भी ऐसे बच्चों को देख खुश होते हैं। यह सब हमारे बच्चे हैं। अभी अन्त का पार्ट बजा रहे हैं। स्वर्ग की स्थापना में मदद करने लिए मेरे साथी बने हैं। यह है रुद्र शिवबाबा का राजस्व अश्वमेध ज्ञान यज्ञ। शिवबाबा स्वर्ग की स्थापना कैसे करते हैं? पहले ब्रह्मा और ब्राह्मणों द्वारा रुद्र ज्ञान यज्ञ रचते हैं जिससे स्वर्ग की स्थापना होती है। तो जरूर ब्राह्मणों को ही यज्ञ सम्भालना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) निश्चय बुद्धि बन पढ़ाई करनी है। कभी भी किसी बात में संशय नहीं उठाना है। निश्चय में ही विजय है।

2) बाप का साथी बन स्वर्ग की स्थापना में पूरा मददगार बनना है। यज्ञ की सम्भाल करने वाला पक्का ब्राह्मण बनना है।

वरदान:- आने और जाने के अभ्यास द्वारा बन्धनमुक्त बनने वाले न्यारे, निर्लिप्त भव
सारे पढ़ाई अथवा ज्ञान का सार है – आना और जाना। बुद्धि में घर जाने और राज्य में आने की खुशी है। लेकिन खुशी से वही जायेगा जिसका सदा आने और जाने का अभ्यास होगा। जब चाहो तब अशरीरी स्थिति में स्थित हो जाओ और जब चाहो तब कर्मातीत बन जाओ – यह अभ्यास बहुत पक्का चाहिए। इसके लिए कोई भी बंधन अपनी तरफ आकर्षित न करे। बंधन ही आत्मा को टाइट कर देता है और टाइट वस्त्र को उतारने में खिंचावट होती है इसलिए सदा सदा न्यारे, निर्लिप्त रहने का पाठ पक्का करो।
स्लोगन:- सुख के खाते से सम्पन्न रहो तो आपके हर कदम से सबको सुख की अनुभूति होती रहेगी।
Font Resize