daily murli 5 july

TODAY MURLI 5 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 July 2020

05/07/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/02/86

Benefit for everyone through the flying stage.

Today, BapDada has especially come to give the doubleforeign children double congratulations. Firstly because, even though you have gone to faraway lands and into different religions, you recognised the Father more quickly than the many souls living close by in Bharat. Congratulations for recognising the Father, that is, for attaining your fortune and, secondly, just as you quickly recognised the Father, so you quickly engaged yourselves in service. So, secondly, congratulations for quickly moving forward in service. The speed of expansion in service has been fast and, in the future too, double-foreign children have to become instruments for a special task. The original jewels, the special souls, who are instruments in Bharat, became a very strong foundation and carried out the task of establishment, and the double-foreign children did the service of quickly spreading the sound in all directions and will continue to do so. This is why BapDada is giving all of you children special congratulations for moving forward quickly in service as soon as you came and took birth. In a short time, you have expanded service in many different lands and this is why the task of spreading the sound is growing easily. By always being double light, you will definitely also always make intense effort to claim your full right to become double crowned. BapDada has come especially to meet you. BapDada is seeing that the drums of happiness are being beaten in everyone’s heart. BapDada is hearing the music of the children’s happiness and their songs of happiness. You are moving forward with deep love for remembrance and service. There is remembrance and also service, but what further addition has to take place? Both are there, but let there always be a balance of the two. This balance makes you experienced in receiving blessings from the Father for yourselves and for service. You then have zeal and enthusiasm for service. Now, in further service, when there is a greater balance of remembrance and service, the sound will echo in the world very loudly. You have brought about good expansion. What is done after the expansion? After the expansion, special souls have to be made into instruments for the essence of service so that those special souls will awaken special souls of Bharat. Now, in Bharat too, according to the time, the methods of serving are improving. Leaders, religious leaders and also actors are coming into contact. Who else is left? They are coming into contact, leaders are also coming into contact, but now the thought has to arise especially to bring political leaders into close contact.

All of you double-foreign children are now going into the flying stage, are you not? You are not those in the climbing stage, are you? Do you have the flying stage? When there is the flying stage, it means there is benefit for everyone. When all the children have a constant and stable flying stage, everyone will benefit, that is, the task of transformation will be accomplished. Now, there is the flying stage, but along with that, there are also stages of different levels. Sometimes, the stage is very good, and at other times, it is the stage of making effort to create that stage. When the majority has a constant flying stage, it means that completion is to take place. Now, all of you children know that the flying stage is the elevated stage. The flying stage is the stage to attain the karmateet stage. The flying stage is the stage of being in a body and yet being detached from it, of loving the Father and service. The flying stage is the stage of a bestower of fortune and a bestower of blessings. The flying stage is the stage that will grant visions of both angels and deities walking and moving around.

The flying stage will free all souls from being beggars and give them a right to the Father’s inheritance. All souls will experience their special deities and goddesses – or whoever are their instrument deities – to have all incarnated on this earth. In the golden age, everyone will be in salvation, but you are the bestowers of salvation for all the souls who are present at this time. After a drama has finished, all the actors come on stage. So, now, the time for the end of the drama of the cycle is coming. All souls of the world will definitely have a vision, either in their dreams, with a glimpse of a second, or through the sound of revelation everywhere that the hero actors of this drama have been revealed on this stage; the stars of the earth have been revealed on the earth. Everyone will be very happy to have attained their especially loved deities. They will receive support. You double-foreigners are also especially loved gods and goddesses, are you not? Or, is it just those of the Golden Jubilee? Are you also part of that, or are you just observers? You saw the scene of the Golden Jubilee, did you not? It was an entertaining part that was played. However, in the final scenes, will you be those who grant visions or simply observers? What will you be? You are hero actors, are you not? Now, let that scene emerge as it is going to be. Become trikaldarshi now and imagine how beautiful that final scene will be and how beautiful you will be. You will be angels, then deities, beautifully decorated images with divine virtues. For that, practise seeing yourselves in the stage of your angelic form from now on and continue to move forward. There are four main subjects – to be an image of knowledge, an image of constant remembrance, an image of all divine virtues. If even one virtue is missing, you cannot be called sixteen celestial degrees full. There would be all three types of praise: sixteen celestial degrees, all virtuous and filled with all. Full of all virtues, completely viceless and sixteen celestial degrees full. All three specialities are needed. Sixteen celestial degrees means you have to be full, perfect and have all virtues. So check this. You were told that this is the year in which you can accumulate for a long period of time. Then, the account of a long period will end, and then it would be said, for a short time, not for a long time. Now, come into the line of effort-making over a long period of time. You will then claim a right to attaining the fortune of the kingdom over a long period of time. If there are even two or four births less, that would not be counted as a long period of time. Let there be the first birth and the elevated happiness of nature in its prime. Let it be 1.1.1. Be one in everything. What will you have to do for that? When you are number one in service, your stage is also number one and you will then come in 1.1.1, will you not? So, become those who are to play their parts with the number one soul at the beginning of the golden age and who play their parts in the number one birth. So, you will be the ones to begin the era. Only those who take the first birth will begin with the date of the first day of the first month of the first era. So, you double-foreigners will come as number one, will you not? Achcha. Do you know how to wear an angelic dress? It is a sparkling dress. To have that awareness and to become that form means to wear an angelic dress. Something that sparkles attracts from a distance. So, this angelic dress, that is, this angelic form will attract souls who are very far away. Achcha.

Today, it is the turn of the UK. What is the speciality of the UK? Will you make London the place of your kingdom even in the golden age, or will it just be a tourist place? It is the United Kingdom, is it not? Will you make it a kingdom there too, or will the kings simply go there to visit? Nevertheless, it is still called a kingdom, is it not? So, at this time, it is the kingdom of service anyway. It is an instrumental kingdom for service of all the foreign lands, is it not? The name kingdom is correct, is it not? It is a kingdom that will unite everyone. It is a kingdom that will enable all souls to meet the Father. BapDada says to those who are from the UK: You are those who remain OKUK means those who remain OK. If you were asked, you would say “I’m OK, wouldn’t you? Not that you say, “Yes, that’s true I am OK…” with a long sigh, whereas when you are fine, you say, “Yes, I am OK very enthusiastically. There is a difference in the way you say OK. So, the kingdom of the confluence age, the kingdom of service through which inspiration will spread everywhere for souls to become rulers, that is, the royal family, has to be ready. So, the kingdom is the place where souls who claim a right to the kingdom are created. This is why BapDada especially remembers the speciality of every country and continues to make it move constantly forward with that speciality. BapDada does not look at the weaknesses but just gives a signal. By continually saying, “You are very good, you are very good”, you become good. If He were to say, “You are weak, you are weak”, you would become weak. In that case, if you are already weak, and someone else then tells that, you would become unconscious. No matter how unconscious someone is, if you give him the life-giving herb of an elevated awareness, an awareness of their specialities, he would regain consciousness. All of you have the life-giving herb, do you not? So, keep the mirror of specialities in front of that one because every Brahmin soul is special. You are a handful out of multimillions, are you not? Therefore, you are special, are you not? It is just that, at that time, some forget their specialities. By being reminded of those, they will become special souls. The more you speak of their specialities, the more they will experience their weaknesses even more clearly. You won’t need to remind them of them. If you tell them about their weakness, they will try to hide it. They will avoid it, and say, “I am not like that.” Instead, tell them their specialities. Until they experience those weaknesses for themselves, they cannot bring about transformation, even if kept working on them for 50 years. So, revive those who are unconscious with this life-giving herb and continue to fly and make others fly. This is what the UK does, is it not? Achcha.

How many people have gone from London to other places? They have gone from Bharat anyway, but how many have gone from London? How many have gone from Australia? Australians have also expanded and have gone to other places. The further the Ganges of knowledge flows, the better it is. How many centres are there in the UK, Australia, America and Europe? (Everyone spoke about their own places.)

This means that expansion is taking place. Is there any special place left out now? (There are many.) Achcha, you must be making plans for those too. The foreign lands have such a lift that they can very easily open centres. You can do lokik service and also become instruments for alokik service. In Bharat, there has been the speciality of opening centres by invitation, but abroad you give yourself an invitation. You are the ones who give an invitation and you are also the ones who go there. Therefore, this too is a lift you have received for the easy expansion of service. Wherever you go, two or three people there can become instruments for establishment and they will continue to become that, according to the drama. Whether you call it a gift or a lift that you have received, you have to complete service in a short time and so this can only be completed on time if there is a fast speed. There is a difference between the methods of Bharat and the methods of the lands abroad. Therefore, expansion is taking place quickly abroad and will continue to do so. Many centres can be opened in just a day. The instruments living abroad have an easy chance to serve in all directions. Look at the people of Bharat! It is difficult for them even to get a visa. So, the people living abroad have the chance of becoming the instruments for serving the people there. Therefore, you have a chance for doing service. Just as there is the chance of coming last and going fast, so too, you have received a chance for doing fast service. Therefore, there won’t be the complaint that you came later. Those who have come later have a special chance of going fast. Therefore, each one of you is a server. Are all of you servers or are only those who live at the centres servers? Wherever you are, you cannot rest without doing service. Service is the sleep of comfort. It is said: When you sleep in comfort, that’s a life! Service is said to be the sleep of comfort. If there is no service, there is no sleep of comfort. You were told that service is not just with words. There is service at every second. There is service in every thought. No Brahmin can say – whether they are residents of Bharat or the lands abroad – that they don’t receive a chance to serve. Even if you are ill, you can do the service of creating an atmosphere and spreading vibrations with your mind. Whatever type of service you do, you have to remain busy in service. Service is your life. To be a Brahmin means to be a server. Achcha.

To those who constantly stay in the flying stage and so have the stage of benefiting everyone, to those who always experience themselves to be angels, to the especially loved deity souls who are to be revealed to the world as the especially loved deities, to those who always consider themselves to be special souls and who give others the experience of their specialities, to the special souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting a group:

Do you always experience yourself to be karma yogis? A karma yogi life means, to stay constantly on the pilgrimage of remembrance while carrying out every task. Only the children of the elevated Father carry out this elevated task and are always successful. All of you are karma yogi souls, are you not? While doing everything, always remain detached and loving. Continue to move yourself forward with this practice. As well as being responsible for yourselves, all of you also have responsibility for the world. However, all of those are physical facilities. Continue to move forward with a karma yogi life and also continue to enable others to move forward. This is an extremely lovely life. There is service and also happiness. You have a great deal of both at the same time, do you not? It is the Golden Jubilee of everyone. Golden means to remain stable in the satopradhan stage. Therefore, continue to make yourself move constantly forward with this elevated stage. All of you have done service well, have you not? It is only now that you receive this chance of serving. Later, this chance will end. So, constantly continue to move forward in service. Achcha.

Blessing: May you claim the degree of a destroyer of obstacles by the experiencing the Father’s canopy of protection and become an embodiment of experience.
When the Father is with you, no one can do anything to you. The experience of His company becomes a canopy of protection. BapDada always protects the children anyway. Test papers come to make you experienced, and so always think that that paper has come for you to move forward to the next class. It is with this that you will claim the degree of a destroyer of obstacles and the blessing of being an embodiment of experience for all time. If some now make a little noise or create an obstacle, they will gradually cool down.
Slogan: Those who become co-operative at a time of need receive multimillion-fold return of one.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-07-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-02-86 मधुबन

उड़ती कला से सर्व का भला

आज विशेष डबल विदेशी बच्चों को डबल मुबारक देने आये हैं। एक – दूरदेश में भिन्न धर्म में जाते हुए भी नजदीक भारत में रहने वाली अनेक आत्माओं से जल्दी बाप को पहचाना। बाप को पहचानने की अर्थात् अपने भाग्य को प्राप्त करने की मुबारक और दूसरी जैसे तीव्रगति से पहचाना वैसे ही तीव्रगति से सेवा में स्वयं को लगाया। तो सेवा में तीव्रगति से आगे बढ़ने की दूसरी मुबारक। सेवा के वृद्धि की गति तीव्र रही है और आगे भी डबल विदेशी बच्चों को विशेष कार्य अर्थ निमित्त बनना है। भारत के निमित्त आदि रत्न विशेष आत्माओं ने स्थापना के कार्य में बहुत मजबूत फाउन्डेशन बन कार्य की स्थापना की और डबल विदेशी बच्चों ने चारों ओर आवाज फैलाने में तीव्र-गति की सेवा की और करते रहेंगे इसलिए बापदादा सभी बच्चों को आते ही, जन्मते ही बहुत जल्दी सेवा में आगे बढ़ने की विशेष मुबारक दे रहे हैं। थोड़े समय में भिन्न-भिन्न देशों में सेवा का विस्तार किया है, इसलिए आवाज फैलाने का कार्य सहज वृद्धि को पा रहा है। और सदा डबल लाइट बन डबल ताजधारी बनने का सम्पूर्ण अधिकार प्राप्त करने का तीव्र पुरूषार्थ अवश्य करेंगे। आज विशेष मिलने के लिए आये हैं। बापदादा देख रहे हैं कि सभी की दिल में खुशी के बाजे बज रहे हैं। बच्चों की खुशी के साज़, खुशी के गीत बापदादा को सुनाई देते हैं। याद और सेवा में लगन से आगे बढ़ रहे हैं। याद भी है, सेवा भी है लेकिन अभी एडीशन क्या होना है? हैं दोनों ही लेकिन सदा दोनों का बैलेन्स रहे। यह बैलेन्स स्वयं को और सेवा में बाप की ब्लैसिंग के अनुभवी बनाता है। सेवा का उमंग-उत्साह रहता है। अभी और भी सेवा में याद और सेवा का बैलेन्स रखने से ज्यादा आवाज बुलन्द रूप में विश्व में गूंजेगा। विस्तार अच्छा किया है। विस्तार के बाद क्या किया जाता है? विस्तार के साथ अभी और भी सेवा का सार ऐसी विशेष आत्मायें निमित्त बनानी हैं जो विशेष आत्मायें भारत की विशेष आत्माओं को जगायें। अभी भारत में भी सेवा की रूपरेखा समय प्रमाण आगे बढ़ती जा रही हैं। नेतायें, धर्मनेतायें और साथ-साथ अभिनेतायें भी सम्पर्क में आ रहे हैं। बाकी कौन रहे हैं? सम्पर्क में तो आ रहे हैं, नेतायें भी आ रहे हैं लेकिन विशेष राजनेतायें उन्हों तक भी समीप सम्पर्क में आने का संकल्प उत्पन्न होना ही है।

सभी डबल विदेशी बच्चे उड़ती कला में जा रहे हो ना! चढ़ती कला वाले तो नही हो ना! उड़ती कला है? उड़ती कला होना अर्थात् सर्व का भला होना। जब सभी बच्चों की एकरस उड़ती कला बन जायेगी तो सर्व का भला अर्थात् परिवर्तन का कार्य सम्पन्न हो जायेगा। अभी उड़ती कला है लेकिन उड़ती के साथ-साथ स्टेजेस है। कभी बहुत अच्छी स्टेज है और कभी स्टेज के लिए पुरूषार्थ करने की स्टेज हैं। सदा और मैजारिटी की उड़ती कला होना अर्थात् समाप्ति होना। अभी सभी बच्चे जानते हैं कि उड़ती कला ही श्रेष्ठ स्थिति है। उड़ती कला ही कर्मातीत स्थिति को प्राप्त करने की स्थिति है। उड़ती कला ही कर्मातीत स्थिति को प्राप्त करने की स्थिति है। उड़ती कला ही देह में रहते, देह से न्यारी और सदा बाप और सेवा में प्यारेपन की स्थिति है। उड़ती कला ही विधाता और वरदाता स्टेज की स्थिति है। उड़ती कला ही चलते-फिरते फरिश्ता वा देवता दोनों रूप का साक्षात्कार कराने वाली स्थिति है।

उड़ती कला सर्व आत्माओं को भिखारीपन से छुड़ाए बाप के वर्से के अधिकारी बनाने वाली है। सभी आत्मायें अनुभव करेंगी कि हम सब आत्माओं के ईष्ट देव वा ईष्ट देवियां वा निमित्त बने हुए जो भी अनेक देवतायें हैं, सभी इस धरनी पर अवतरित हो गए हैं। सतयुग में तो सब सद्गति में होंगे लेकिन इस समय जो भी आत्मायें है सर्व के सद्गति दाता हो। जैसे कोई भी ड्रामा जब समाप्त होता है तो अन्त में सभी एक्टर्स स्टेज पर सामने आते हैं। तो अभी कल्प का ड्रामा समाप्त होने का समय आ रहा है। सारी विश्व की आत्माओं को चाहे स्वप्न में, चाहे एक सेकेण्ड की झलक में, चाहे प्रत्यक्षता के चारों ओर के आवाज द्वारा यह जरूर साक्षात्कार होना है कि इस ड्रामा के हीरो पार्टधारी स्टेज पर प्रत्यक्ष हो गये। धरती के सितारे, धरती पर प्रत्यक्ष हो गये। सब अपने-अपने ईष्ट देव को प्राप्त कर बहुत खुश होंगे। सहारा मिलेगा। डबल विदेशी भी ईष्ट देव ईष्ट देवियों में हैं ना! या गोल्डन जुबली वाले हैं? आप भी उसमें हो या देखने वाले हो? जैसे अभी गोल्डन जुबली का दृश्य देखा। यह तो एक रमणीक पार्ट बजाया। लेकिन जब फाइनल दृश्य होगा उसमें तो आप साक्षात्कार कराने वाले होंगे या देखने वाले होंगे? क्या होंगे? हीरो एक्टर हो ना। अभी इमर्ज करो वह दृश्य कैसा होगा। इसी अन्तिम दृश्य के लिए अभी से त्रिकालदर्शी बन देखो कि कैसा सुन्दर दृश्य होगा और कितने सुन्दर हम होंगे। सजे-सजाये दिव्य गुण मूर्त फरिश्ते सो देवता, इसके लिए अभी से अपने को सदा फरिश्ते स्वरूप की स्थिति का अभ्यास करते हुए आगे बढ़ते चलो। जो चार विशेष सबजेक्ट हैं- ज्ञान मूर्त, निरन्तर याद मूर्त, सर्व दिव्यगुण मूर्त, एक दिव्य गुण की भी कमी होगी तो 16 कला सम्पन्न नहीं कहेंगे। 16 कला, सर्व और सम्पूर्ण यह तीनों की महिमा हैं। सर्वगुण सम्पन्न कहते हो, सम्पूर्ण निर्विकारी कहते हो और 16 कला सम्पन्न कहते हो। तीनों विशेषतायें चाहिए। 16 कला अर्थात् सम्पन्न भी चाहिए, सम्पूर्ण भी चाहिए और सर्व भी चाहिए। तो यह चेक करो। सुनाया था ना कि यह वर्ष बहुतकाल के हिसाब में जमा होने का है फिर बहुतकाल का हिसाब समाप्त हो जायेगा, फिर थोड़ा काल कहने में आयेगा, बहुत-काल नहीं। बहुतकाल के पुरूषार्थ की लाइन में आ जाओ। तभी बहुत-काल का राज्य भाग्य प्राप्त करने के अधिकारी बनेंगे। दो चार जन्म भी कम हुआ तो बहुतकाल में गिनती नहीं होगी। पहला जन्म हो और पहला प्रकृति का श्रेष्ठ सुख हो। वन-वन-वन हो। सबमें वन हो। उसके लिए क्या करना पड़ेगा? सेवा भी नम्बरवन, स्थिति भी नम्बरवन तब तो वन-वन में आयेंगे ना! तो सतयुग के आदि में आने वाले नम्बरवन आत्मा के साथ पार्ट बजाने वाले और नम्बरवन जन्म में पार्ट बजाने वाले। तो संवत भी आरम्भ आप करेंगे। पहले-पहले जन्म वाले ही पहली तारीख, पहला मास, पहला संवत शुरू करेंगे। तो डबल विदेशी नम्बरवन में आयेंगे ना। अच्छा – फरिश्तेपन की ड्रेस पहनने आती है ना! यह चमकीली ड्रेस है। यह स्मृति और स्वरूप बनना अर्थात् फरिश्ता ड्रेस धारण करना। चमकने वाली चीज़ दूर से ही आकर्षित करती है। तो यह फरिश्ता ड्रेस अर्थात् फरिश्ता स्वरूप दूर-दूर तक आत्माओं को आकर्षित करेगी। अच्छा!

आज यू.के.का टर्न है। यू.के.वालों की विशेषता क्या है? लण्डन को सतयुग में भी राजधानी बनायेंगे या सिर्फ घूमने का स्थान बनायेंगे? है तो युनाइटेड किंगडम ना! वहाँ भी किंगडम बनायेंगे या सिर्फ किंग्स जाकर चक्र लगायेंगे? फिर भी जो नाम है, किंगडम कहते हैं। तो इस समय सेवा का किंगडम तो है ही। सारे विदेश के सेवा की राजधानी तो निमित्त है ही। किंगडम नाम तो ठीक है ना! सभी को युनाइट करने वाली किंगडम है। सभी आत्माओं को बाप से मिलाने की राजधानी है। यू.के.वालों को बापदादा कहते हैं ओ.के. रहने वाले। यू.के.अर्थात् ओ.के. रहने वाले। कभी भी किसी से भी पूछें तो ओ.के. ऐसे हैं ना। ऐसे तो नहीं कहेंगे हाँ हैं तो सही। लम्बा श्वांस उठाकर कहते हैं हाँ। और जब ठीक होते हैं तो कहते हैं हाँ ओ.के., ओ.के. कहने में फ़र्क होता है। तो संगमयुग की राजधानी, सेवा की राजधानी जिसमें राज्य सत्ता अर्थात् रॉयल फैमली की आत्मायें तैयार होने की प्रेरणा चारों ओर फैले। तो राजधानी में राज्य अधिकारी बनाने का राज्य-स्थान तो हुआ ना इसलिए बापदादा हर देश की विशेषता को विशेष रूप से याद करते हैं और विशेषता से सदा आगे बढ़ाते हैं। बापदादा कमजोरियां नहीं देखते हैं, सिर्फ इशारा देते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे कहते-कहते बहुत अच्छे हो जाते हैं। कमजोर हो, कमजोर हो कहते तो कमजोर हो जाते। एक तो पहले कमजोर होते हैं दूसरा कोई कह देता है तो मूर्छित हो जाते हैं। कैसा भी मूर्छित हो लेकिन उसको श्रेष्ठ स्मृति की, विशेषताओं के स्मृति की संजीवनी बूटी खिलाओ तो मूर्छित से सुरजीत हो जायेगा। संजीवनी बूटी सबके पास है ना। तो विशेषताओं के स्वरूप का दर्पण उसके सामने रखो क्योंकि हर ब्राह्मण आत्मा विशेष है। कोटों में कोई है ना। तो विशेष हुई ना! सिर्फ उस समय अपनी विशेषता को भूल जाते हैं। उसको स्मृति दिलाने से विशेष आत्मा बन ही जायेंगे। और जितनी विशेषता का वर्णन करेंगे तो उसको स्वयं ही अपनी कमजोरी और ही ज्यादा स्पष्ट अनुभव होगी। आपको कराने की जरूरत नहीं होगी। अगर आप किसको कमजोरी सुनायेंगे तो वह छिपायेंगे। टाल देंगे, मैं ऐसा नहीं हूँ। आप विशेषता सुनाओ। जब तक कमजोरी स्वयं ही अनुभव न करें तब तक परिवर्तन कर नहीं सकते। चाहे 50 वर्ष आप मेहनत करते रहो इसलिए इस संजीवनी बूटी से मूर्छित को भी सुरजीत कर उड़ते चलो और उड़ाते चलो। यही यू.के. करता है ना। अच्छा –

लण्डन से और-और स्थानों पर कितने गये हैं। भारत से तो गये हैं, लण्डन से कितने गये हैं? आस्ट्रेलिया से कितने गये। आस्ट्रेलिया ने भी वृद्धि की है और कहाँ-कहाँ गये? ज्ञान गंगायें जितना दूर-दूर बहती हैं उतना अच्छा है। यू.के. आस्ट्रेलिया, अमेरिका, यूरोप में कितने सेन्टर हैं? (सबने अपनी-अपनी संख्या सुनाई)

मतलब तो वृद्धि को प्राप्त कर रहे हो। अभी कोई विशेष स्थान रहा हुआ है? (बहुत हैं) अच्छा उसका प्लैन भी बना रहे हो ना। विदेश को यह लिफ्ट है कि बहुत सहज सेन्टर खोल सकते हैं। लौकिक सेवा भी कर सकते हैं और अलौकिक सेवा के भी निमित्त बन सकते हैं। भारत में फिर भी निमंत्रण पर सेन्टर स्थापन होने की विशेषता रही है लेकिन विदेश में स्वयं ही निमंत्रण स्वयं को देते। निमंत्रण देने वाले भी खुद और पहुँचने वाले भी खुद तो यह भी सेवा में वृद्धि सहज होने की एक लिफ्ट मिली हुई है। जहाँ भी जाओ तो दो तीन मिलकर वहाँ स्थापना के निमित्त बन सकते हो और बनते रहेंगे। यह ड्रामा अनुसार गिफ्ट कहो, लिफ्ट कहो, मिली हुई है क्योंकि थोड़े समय में सेवा को समाप्त करना है तो तीव्रगति हो तब तो समय पर समाप्त हो सके। भारत की विधि और विदेश की विधि में अन्तर है इसलिए विदेश में जल्दी वृद्धि हो रही है और होती रहेगी। एक ही दिन में बहुत ही सेन्टर खुल सकते हैं। चारों ओर विदेश में निमित्त रहने वाले विदेशियों को सेवा का चांस सहज है। भारत वालों को देखो वीसा भी मुश्किल मिलती है। तो यह चांस है वहाँ के रहने वाले ही वहाँ की सेवा के निमित्त बनते हैं इसलिए सेवा का चांस है। जैसे लास्ट सो फास्ट जाने का चांस है वैसे सेवा का चांस भी फास्ट मिला हुआ है इसलिए उल्हना नहीं रहेगा कि हम पीछे आये। पीछे आने वालों को फास्ट जाने का चांस भी विशेष है इसलिए हर एक सेवाधारी है। सभी सेवाधारी हो या सेन्टर पर रहने वाले सेवाधारी हैं? कहाँ भी हैं सेवा के बिना चैन नहीं हो सकती। सेवा ही चैन की निंद्रा है। कहते हैं चैन से सोना यही जीवन है। सेवा ही चैन की निंद्रा कहो, सोना कहो। सेवा नहीं तो चैन की नींद नहीं। सुनाया ना, सेवा सिर्फ वाणी की नहीं, हर सेकेण्ड सेवा है। हर संकल्प में सेवा है। कोई भी यह नहीं कह सकता – चाहे भारतवासी चाहे विदेश में रहने वाले कोई ब्राह्मण यह नहीं कह सकते कि सेवा का चांस नहीं है। बीमार है तो भी मन्सा सेवा, वायुमण्डल बनाने की सेवा, वायब्रेशन फैलाने की सेवा तो कर ही सकते हैं। कोई भी प्रकार की सेवा करो लेकिन सेवा में ही रहना है। सेवा ही जीवन है। ब्राह्मण का अर्थ ही है सेवाधारी। अच्छा!

सदा उड़ती कला सर्व का भला स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा स्वयं को फरिश्ता अनुभव करने वाले, सदा विश्व के आगे ईष्ट देव रूप में प्रत्यक्ष होने वाले, देव आत्मायें सदा स्वयं को विशेष आत्मा समझ औरों को भी विशेषता का अनुभव कराने वाले, विशेष आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से:- सदा स्वयं को कर्मयोगी अनुभव करते हो! कर्मयोगी जीवन अर्थात् हर कार्य करते याद की यात्रा में सदा रहे। यह श्रेष्ठ कार्य श्रेष्ठ बाप के बच्चे ही करते हैं और सदा सफल होते हैं। आप सभी कर्मयोगी आत्मायें हो ना। कर्म में रहते न्यारा और प्यारा सदा इसी अभ्यास से स्वयं को आगे बढ़ाना है। स्वयं के साथ-साथ विश्व की जिम्मेवारी सभी के ऊपर है। लेकिन यह सब स्थूल साधन हैं। कर्मयोगी जीवन द्वारा आगे बढ़ते चलो और बढ़ाते चलो। यही जीवन अति प्रिय जीवन है। सेवा भी हो और खुशी भी हो। दोनों साथ-साथ ठीक हैं ना। गोल्डन जुबली तो सभी की है। गोल्डन अर्थात् सतोप्रधान स्थिति में स्थित रहने वाले। तो सदा अपने को इस श्रेष्ठ स्थिति द्वारा आगे बढ़ाते चलो। सभी ने सेवा अच्छी तरह से की ना! सेवा का चांस भी अभी ही मिलता है फिर यह चांस समाप्त हो जाता है। तो सदा सेवा में आगे बढ़ते चलो। अच्छा!

वरदान:- बाप की छत्रछाया के अनुभव द्वारा विघ्न-विनाशक की डिग्री लेने वाले अनुभवी मूर्त भव
जहाँ बाप साथ है वहाँ कोई कुछ भी कर नहीं सकता। यह साथ का अनुभव ही छत्रछाया बन जाता है। बापदादा बच्चों की सदा रक्षा करते ही हैं। पेपर आते हैं आप लोगों को अनुभवी बनाने के लिए इसलिए सदैव समझना चाहिए कि यह पेपर क्लास आगे बढ़ाने के लिए आ रहे हैं। इससे ही सदा के लिए विघ्न विनाशक की डिगरी और अनुभवी मूर्त बनने का वरदान मिल जायेगा। यदि अभी कोई थोड़ा शोर करते वा विघ्न डालते भी हैं तो धीरे-धीरे ठण्डे हो जायेंगे।
स्लोगन:- जो समय पर सहयोगी बनते हैं उन्हें एक का पदमगुणा फल मिल जाता है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 July 2019

To Read Murli 4 July 2019 :- Click Here
05-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें डबल सिरताज राजा बनना है तो खूब सर्विस करो, प्रजा बनाओ, संगम पर तुम्हें सर्विस ही करनी है, इसमें ही कल्याण हैˮ
प्रश्नः- पुरानी दुनिया के विनाश के पहले हरेक को कौन-सा श्रृंगार करना है?
उत्तर:- तुम बच्चे योगबल से अपना श्रृंगार करो, इस योगबल से ही सारा विश्व पावन बनेगा। तुमको अब वानप्रस्थ में जाना है इसलिए इस शरीर का श्रृंगार करने की जरूरत नहीं। यह तो वर्थ नाट पेनी है, इससे ममत्व निकाल दो। विनाश के पहले बाप समान रहमदिल बन अपना और दूसरों का श्रृंगार करो। अन्धों की लाठी बनो।

ओम् शान्ति। अब यह तो बच्चे अच्छी रीति समझ गये हैं कि बाप आते हैं पावन बनने का रास्ता बताने। उनको बुलाया जाता है इसी एक बात के लिए कि आकर हमको पतित से पावन बनाओ क्योंकि पावन दुनिया पास्ट हो गई, अब पतित दुनिया है। पावन दुनिया कब पास्ट हुई, कितना समय हुआ, यह कोई नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो बाप फिर इस तन में आया हुआ है। तुमने ही बुलाया है कि बाबा आकर हम पतितों को रास्ता बताओ, हम पावन कैसे बनें? यह तो जानते हो हम पावन दुनिया में थे, अभी पतित दुनिया में हैं। अभी यह दुनिया बदल रही है। नई दुनिया की आयु कितनी, पुरानी दुनिया की आयु कितनी है – यह कोई भी नहीं जानते। पक्का मकान बनाओ तो कहेंगे इसकी आयु इतने वर्ष होगी। कच्चा मकान बनायेंगे तो कहेंगे इसकी आयु इतने वर्ष होगी। समझ सकते हैं यह कितने वर्ष तक चल सकता है। मनुष्यों को यह पता ही नहीं कि यह जो सारी दुनिया है उनकी आयु कितनी है? तो जरूर बाप को आकर बताना पड़े। बाप कहते हैं – बच्चे, अब यह पुरानी पतित दुनिया पूरी होनी है। नई पावन दुनिया स्थापन हो रही है। नई दुनिया में बहुत थोड़े मनुष्य थे। नई दुनिया है सतयुग जिसको सुखधाम कहते हैं। यह है दु:खधाम, इसका अन्त जरूर आना है। फिर सुखधाम की हिस्ट्री रिपीट होनी है। सबको यह समझाना है। बाप डायरेक्शन देते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो और फिर औरों को भी यह रास्ता बताओ। लौकिक बाप को तो सब जानते हैं, पारलौकिक बाप को तो कोई जानते नहीं। सर्वव्यापी कह देते हैं। कच्छ-मच्छ अवतार या 84 लाख योनियों में ले गये हैं। दुनिया में कोई भी बाप को नहीं जानते। बाप को जानें तब समझें। अगर पत्थर ठिक्कर में है तो वर्से की बात ही नहीं ठहरती। देवताओं की भी पूजा करते हैं, परन्तु कोई का आक्यूपेशन नहीं जानते, बिल्कुल ही इन बातों में अन्जान हैं। तो पहली-पहली मूल बात समझानी चाहिए। सिर्फ चित्रों से कोई समझ न सके। मनुष्य बिचारे न बाप को जानते हैं, न रचना को जानते हैं कि शुरू से लेकर यह रचना कैसे रची। देवताओं का राज्य कब था, जिनको पूजते हैं, कुछ भी पता नहीं। समझते हैं लाखों वर्ष सूर्यवंशी राजधानी चली, फिर चन्द्रवंशी लाखों वर्ष चले, इसको कहा जाता है अज्ञान। अभी तुम बच्चों को बाप ने समझाया है, तुम फिर रिपीट करते हो। बाप भी रिपीट करते हैं ना। ऐसे समझाओ, पैगाम दो, नहीं तो राजधानी कैसे स्थापन होगी। यहाँ बैठ जाने से नहीं होगा। हाँ, घर में बैठने वाले भी चाहिए। वह तो ड्रामा अनुसार बैठे हैं। यज्ञ की सम्भाल करने वाले भी चाहिए। बाप के पास कितने बच्चे आते हैं मिलने के लिए क्योंकि शिवबाबा से ही वर्सा लेना है। लौकिक बाप के पास बच्चा आया तो वह समझेंगे हमको बाप से वर्सा लेना है। बच्ची तो जाकर हाफ पार्टनर बनती है। सतयुग में कभी मिलकियत आदि पर झगड़ा होता ही नहीं। यहाँ झगड़ा होता है काम विकार पर। वहाँ तो यह 5 भूत होते नहीं, तो दु:ख का नाम-निशान नहीं। सब नष्टोमोहा होते हैं। यह तो समझते हैं स्वर्ग था, जो पास्ट हो गया। चित्र भी हैं परन्तु यह ख्यालात तुम बच्चों को अभी आते हैं। तुम जानते हो यह चक्र हर 5 हज़ार वर्ष के बाद रिपीट होता है। शास्त्रों में कोई यह नहीं लिखा है कि सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी डिनायस्टी 2500 वर्ष चली। अ़खबार में पड़ा था कि बड़ौदा के राजभवन में रामायण सुन रहे हैं। कुछ भी आफतें आती हैं तो मनुष्य भक्ति में लग जाते हैं, भगवान को राज़ी करने के लिए। ऐसे कोई भगवान राज़ी होता नहीं है। यह तो ड्रामा में नूँध है। भक्ति से कभी भगवान् राजी नहीं होता। तुम बच्चे जानते हो आधाकल्प भक्ति चलती है, खुद ही दु:ख उठाते रहते हैं। भक्ति करते-करते सब पैसे खलास कर देते हैं। यह बातें तो कोई विरले ही समझेंगे जो बच्चे सर्विस पर हैं, वह समाचार भी देते रहते हैं। समझाया जाता है यह ईश्वरीय परिवार है। ईश्वर तो दाता है, वह लेने वाला नहीं है। उनको तो कोई भी देते नहीं, और ही सब बरबाद करते रहते हैं।

बाप तुम बच्चों से पूछते हैं, तुमको कितने अथाह पैसे दिये। तुमको स्वर्ग का मालिक बनाया फिर वह सब कहाँ गया? इतने कंगाल कैसे बने? अभी मैं फिर आया हूँ, तुम कितने पद्मापद्म भाग्यवान बन रहे हो। मनुष्य तो इन बातों को कोई भी नहीं जानते। तुम जानते हो अभी इस पुरानी दुनिया में यहाँ रहना नहीं है। यह तो खलास हो जानी है। मनुष्यों के पास जो ढेर पैसे हैं वह किसी के हाथ आने नहीं हैं। विनाश होगा तो सब खलास हो जायेंगे। कितने माइल में बड़े-बड़े मकान आदि बने हुए हैं। ढेर की ढेर मिलकियत है, सब खत्म हो जायेगी क्योंकि तुम जानते हो जब हमारा राज्य था तो और कोई थे ही नहीं। वहाँ अथाह धन था। तुम आगे चल देखते रहेंगे क्या-क्या होता है। उनके पास कितना सोना, कितनी चांदी, नोट आदि हैं, वह सब बजट निकलता है, एनाउन्स करते हैं इतना बजट है तो इतना खर्चा है। बारूद पर कितना खर्चा है। अभी बारूद पर इतना खर्चा करते हैं। उससे आमदनी तो कुछ है नहीं। यह रखने की चीज़ तो है नहीं। रखने का होता है सोना और चांदी। दुनिया गोल्डन एजेड है तो सोने के सिक्के होते हैं। सिलवर एज में चांदी है। वहाँ तो अपार धन होता है, फिर कम होते-होते अभी देखो क्या निकला है! काग़ज़ के नोट। विलायत में भी काग़ज़ के निकले हैं। काग़ज़ तो काम की चीज़ नहीं। बाकी क्या रहेगा? यह बड़ी-बड़ी बिल्डिंग्स आदि सब खत्म हो जायेंगी इसलिए बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, यह जो कुछ देखते हो, ऐसे समझो यह है नहीं। यह तो सब खलास हो जाना है। शरीर भी पुराना बर्थ नाट ए पेनी है। भल कोई कितना भी सुन्दर हो। यह दुनिया ही बाकी थोड़ा समय है। कुछ ठिकाना थोड़ेही है। बैठे-बैठे मनुष्य का क्या हो जाता है। हार्ट फेल हो जाते हैं। मनुष्य का कोई भरोसा नहीं। सतयुग में थोड़ेही ऐसे होगा। वहाँ तो काया कल्पतरू समान होती है, योगबल से। अब तुम बच्चों को बाप मिला है, कहते हैं इस दुनिया में तुमको रहना नहीं है। यह छी-छी दुनिया है। अब तो योगबल से अपना श्रृंगार करना है। वहाँ तो बच्चे भी योगबल से होते हैं। विकार की बात ही वहाँ नहीं होती। योगबल से तुम सारे विश्व को पावन बनाते हो तो बाकी क्या बड़ी बात है। इन बातों को भी वही समझेंगे जो अपने घराने के होंगे। बाकी तो सबको शान्तिधाम में जाना है, वह तो है घर। परन्तु मनुष्य उसको घर भी नहीं समझते हैं। वो तो कहते हैं एक आत्मा जाती है, दूसरी आती रहती है। सृष्टि वृद्धि को पाती जाती है। रचयिता और रचना को तुम जानते हो, इसलिए कोशिश करते हो औरों को समझाने की। यह समझकर कि बाबा का स्टूडेण्ट बन जाए, सब कुछ जान जाए, खुशी में आ जाए। हम तो अब अमरलोक में जाते हैं। आधाकल्प तो झूठी कथायें सुनी हैं। अब तो बहुत खुशी होनी चाहिए – अमरलोक में हम जायेंगे। इस मृत्युलोक का अभी अन्त है। हम खुशी का खजाना यहाँ से भरकर जाते हैं। तो इस कमाई करने में, झोली भरने में अच्छी रीति लग जाना चाहिए। टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। बस, अभी तो हमको औरों की सर्विस करनी है, झोली भरनी है। बाप सिखलाते हैं, रहमदिल कैसे बनो? अंधों की लाठी बनो। यह सवाल तो कोई सन्यासी, विद्वान आदि पूछ नहीं सकते। उनको क्या पता स्वर्ग कहाँ, नर्क कहाँ होता है। भल कितने भी बड़े-बड़े पोजीशन वाले हैं, कमान्डर चीफ एरोप्लेन्स के हैं, कमान्डर चीफ लड़ाई के हैं, स्टीमर के हैं, लेकिन तुम्हारे आगे यह सब क्या हैं! तुम जानते हो बाकी थोड़ा समय है। स्वर्ग का तो कोई को पता ही नहीं। इस समय तो सब तरफ मारामारी चल रही है, फिर उन्हों को एरोप्लेन्स अथवा लश्कर आदि की दरकार नहीं रहेगी। यह सब खलास हो जायेंगे। बाकी थोड़े मनुष्य रहेंगे। यह बत्तियां, एरोप्लेन आदि रहेंगे परन्तु दुनिया कितनी छोटी रहेगी, भारत ही रहेगा। जैसे माँडल छोटा बनाते हैं ना। और कोई की भी बुद्धि में नहीं होगा कि मौत आखरीन कैसे आना है। तुम तो जानते हो मौत सामने खड़ा है। वह कहते हैं हम यहाँ बैठे ही बाम्ब्स छोड़ेंगे। जहाँ गिरेगा सब खत्म हो जायेंगे। कोई लश्कर आदि की दरकार नहीं है। एक-एक एरोप्लेन भी करोड़ों खर्चा खा जाता है। कितना सोना सबके पास रहता है। टन्स के टन्स सोना है, वह सब समुद्र में चला जायेगा।

यह सारा रावण राज्य एक आइलैण्ड है। अनगिनत मनुष्य हैं। तुम सब अपना राज्य स्थापन कर रहे हो। तो सर्विस में बिज़ी रहना चाहिए। कहाँ बाढ़ आदि होती है तो देखो कैसे बिज़ी हो जाते हैं। सबको खाना आदि पहुँचाने की सर्विस में लग जाते है। पानी आता है तो पहले से ही भागना शुरू करते हैं। तो विचार करो सब कैसे खत्म होंगे। सृष्टि के आलराउन्ड सागर है। विनाश होगा तो जलमई हो जायेगी, पानी ही पानी। बुद्धि में रहता है हमारा राज्य था तो यह बाम्बे-कराची आदि तो थे नहीं। भारत कितना छोटा जाकर रहेगा, सो भी मीठे पानी पर। वहाँ कुएं आदि की दरकार नहीं। पानी बड़ा स्वच्छ पीने का रहता है। नदियों पर तो खेलपाल करते हैं। गन्दगी की कोई बात नहीं। नाम ही है स्वर्ग, अमरलोक। नाम सुनकर ही दिल होती है जल्दी-जल्दी बाप से पूरा पढ़कर वर्सा ले लेवें। पढ़कर और फिर पढ़ावें। सबको पैगाम दें। कल्प पहले जिन्होंने वर्सा लिया है वह ले लेंगे। पुरूषार्थ करते रहते हैं क्योंकि बिचारे बाप को नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं पवित्र बनो। जिनको हथेली पर बहिश्त मिलेगा वह क्यों नहीं पवित्र रहेंगे। बोलो, हम क्यों नहीं एक जन्म पवित्र बनेंगे, जबकि हमें विश्व की बादशाही मिलती है। भगवानुवाच – तुम इस अन्तिम जन्म में पवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे, 21 जन्म के लिए। सिर्फ यह एक जन्म मेरी श्रीमत पर चलो। रक्षाबन्धन भी इसकी निशानी है। तो क्यों नहीं हम पवित्र रह सकेंगे। बेहद का बाप गैरन्टी करते हैं। बाप ने भारत को स्वर्ग का वर्सा दिया था, जिसको सुखधाम कहते हैं। अपार सुख थे, यह है दु:खधाम। एक कोई बड़े को तुम ऐसे समझाओ तो सब सुनते रहेंगे। योग में रह बताओ तो सबको टाइम आदि ही भूल जाए। कोई कुछ कह न सके। 15-20 मिनट के बदले घण्टा भी सुनते रहें। परन्तु वह ताकत चाहिए। देह-अभिमान नहीं होना चाहिए। यहाँ तो सर्विस ही सर्विस करनी है, तब ही कल्याण होगा। राजा बनना है तो प्रजा कहाँ बनाई है। ऐसे ही बाप थोड़ेही माथे पर पाग रख देंगे। प्रजा डबल सिरताज बनती है क्या? तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही है डबल सिरताज बनने की। बाप तो बच्चों को हुल्लास दिलाते हैं। जन्म-जन्मान्तर के पाप सिर पर हैं, वह योगबल से ही कट सकते हैं। बाकी इस जन्म में क्या-क्या किया है वह तो तुम समझ सकते हो ना। पाप काटने के लिए योग आदि सिखाया जाता है। बाकी इस जन्म की तो कोई बात नहीं। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने की युक्ति बाप बैठ बतलाते हैं, बाकी कृपा आदि तो जाकर साधुओं से मांगो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमरलोक में जाने के लिए संगम पर खुशी का खजाना भरना है। टाइम वेस्ट नहीं करना है। अपनी झोली भरकर रहमदिल बन अंधों की लाठी बनना है।

2) हथेली पर बहिश्त लेने के लिए पवित्र जरूर बनना है। स्वयं को सतोप्रधान बनाने की युक्तियां रच अपने ऊपर आपेही कृपा करनी है। योगबल जमा करना है।

वरदान:- बातों रूपी बादलों को देख घबराने के बजाए सेकण्ड में क्रास करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
कई बच्चे शास्त्रवादियों की तरह बात बनाने में बहुत होशियार हैं। ऐसी बातें बनाते हैं जो सुनते ही बाप को भी हंसी आ जाती है लेकिन दूसरे प्रभावित हो जाते हैं। यह अनेक प्रकार की व्यर्थ बातें, व्यर्थ रजिस्टर का रोल बनाती रहती हैं, इसलिए इससे तीव्र उड़ान भरो, इनोसेंट बनो। बाप को देखो बातों को नहीं। ये बातें ही बादल हैं इन्हें सेकण्ड में क्रास करने की विधि से सिद्धि स्वरूप बनो।
स्लोगन:- किसी भी बात में क्वेश्चन मार्क उठाना अर्थात् व्यर्थ का खाता प्रारम्भ होना।

TODAY MURLI 5 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 July 2019:- Click Here

05/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become double-crowned kings. Therefore, do a lot of service and create subjects. At the confluence age, you have to doservice:Only in this is there benefit.
Question: What decoration does each one of you have to have before destruction of the old world takes place?
Answer: You children have to decorate yourselves with the power of yoga. It is with this power of yoga that the whole world will become pure. You now have to go into the stage of retirement; there is therefore no need to decorate those bodies. They are not worth a penny. Therefore, remove your attachment from them. Become merciful like the Father before destruction takes place and decorate yourselves and others. Become sticks for the blind.

Om shanti. You children have understood very well that the Father comes to show you the way to become pure. People call out to Him for just this one thing – to come and make them pure from impure because it is now the impure world and the pure world is the past. No one knows when the pure world became thepast or how long ago that happened. You children know that the Father has entered this body. You called out to Him: Baba, come and show us impure ones the way to become pure. You know that you were in the pure world and that you are now in the impure world. This world is now changing. No one knows what the duration of the new world is or what the duration of the old world is. When you make a strong building, you can tell how long it will last. If you make a weak building you can say its lifespan will be this many years; you can understand how long it will last. People don’t know what the duration of the whole world is. So, surely, the Father has to come and tell them. The Father says: Children, this old, impure world now has to end for the new pure world is to be established. There were very few human beings in the new world. The new world is the golden age which is also called the land of happiness. This is the land of sorrow and it definitely has to end. Then, the history of the land of happiness has to repeat. You have to explain this to everyone. The Father gives you the direction: Consider yourselves to be souls and remember the Father and then also show this path to others. Everyone knows their physical father, but no one knows the parlokik Father. They say that He is omnipresent. They have put Him into different incarnations of a fish and an alligator and 8.4 million species. No one in the world knows the Father. Only when they know the Father can they understand. If He is in the pebbles and stones, the concept of the inheritance cannot apply. People worship deities, but they don’t know the occupation of any of them. They are totally ignorant about these matters. So, explain the first main thing. No one can understand anything from just the pictures. The poor people neither know the Father nor the creation or how the creation was created at the beginning. They don’t know at all when it was the kingdom of the deities whom they worship. They believe that the sun-dynasty kingdom continued for hundreds of thousands of years and that the moon dynasty then continued for hundreds of thousands of years. That is called ignorance. The Father has now explained to you children and you then repeat it. The Father also repeats it. Explain in this way and give the message. How else would the kingdom be established? It cannot happen by your simply sitting down here. Yes, those who sit at home are also needed. They are sitting there, according to the drama. Those who look after the yagya are also needed. So many children come to the Father to meet Him, because they are to receive the inheritance from Shiv Baba alone. When a physical father has a son, the son understands that he has to claim his inheritance from his father. A daughter would go and become a half-partner. In the golden age, there is no fighting over property. Here, there is fighting because of the vice of lust. These five evil spirits do not exist there and so there is no name or trace of sorrow; all are conquerors of attachment. You understand that heaven existed and that it has now become the past. There are its images too, but you children only have these thoughts at this time. You know that this cycle will repeat every 5000 years. It is not written in the scriptures that the sun and moon dynasties continued for 2500 years. Baba read in the newspapers that people are listening to the Ramayana in Governor House at Baroda. When any calamities come, people engross themselves in devotion to please God. God isn’t pleased in that way. That is fixed in the drama. God is never pleased with devotion. You children know that devotion continues for half the cycle and that people take sorrow upon themselves. They finish all their wealth in performing devotion. Scarcely a few understand these things. The children who do service also continue to give news of that. It is explained that this is God’s family. God is the Bestower; He doesn’t take anything from anyone. No one gives anything to Him. Instead, they just waste it. The Father asks you children: I gave you so much wealth. I made you into the masters of heaven. So, where did all of that go? How did you become so poverty-stricken? I have now come once again and so you are becoming multimillion times fortunate. People don’t understand any of these matters. You know that you no longer have to live here in this old world; it is going to be destroyed. All the money that people have is not going to stay with anyone. When destruction takes place, everything is finished. So many big buildings have been built over so many miles. There is so much wealth, but all of that is going to be destroyed for you know that when it was your kingdom, there was no one else there. There was a lot of wealth there. As you progress further, you will see what happens. Those people have a budget of how much gold, silver and money they have. They announce that their budget is so much and that their expenditure is so much. They have so much expenditure on armaments. They spend so much on armaments and they don’t have any income from that. Those are not things that they will keep. It is just gold and silver that you would keep. When the world is goldenaged, they have gold coins. In the silver age, they have silver. There was limitless wealth there, but as it decreased, look what they then invented. ‘Paper notes’. Abroad, too, they have paper money. Paper is of no use. So what will remain? All of those huge buildings will also be destroyed. This is why the Father says: Sweetest children, whatever you see, think that it doesn’t exist. It is all going to be destroyed. Even bodies are old, not worth a penny, no matter how beautiful they may be. This world is only going to remain for a short period now. There is no guarantee for it. Look what happens to people while they are sitting somewhere! They have heartfailure. There is no guarantee for human beings. It will not be like that in the golden age. Through the power of yoga, your body becomes everlasting like the kalpa tree. You children have now found the Father who says: You no longer have to stay in this world. This is a dirty world. You now have to decorate yourselves with the power of yoga. There, children are born through the power of yoga. There is no question of vice there. You purify the whole world with the power of yoga, and so nothing is a big deal. Only those who belong to your clan will understand these things. All the rest have to go to the land of peace which is their home. However, people don’t consider that to be their home. They say that one soul goes up there and another one comes down. The world population continues to expand. You know the Creator and the creation and you therefore try to explain to others, so that they become Baba’s students and know everything and become happy. We are now going to the land of immortality. For half the cycle, you have been listening to false stories. You should now have a lot of happiness that you will go to the land of immortality. It is now the end of this land of death. We fill ourselves here with the treasures of happiness and then go back. So, you should become engaged in earning this income and filling your aprons very well. You mustn’t waste your time. We now have to serve others and fill our aprons. The Father teaches you how you can become merciful. Become a stick for the blind. No sannyasis or scholars can show how you can become merciful. What do they know of where heaven is or where hell is? No matter how great a position someone has, even if he is the Commander-inChief of the Air Force, the Army or the Navy, what is all of that compared to you? You know that there is only a little time left. No one knows about heaven. At this time, there is fighting everywhere. Later, they won’t need aeroplanes or armies. All of that is to be destroyed. Only a few human beings will remain. These lights, aeroplanes etc. will remain, but only a small world will remain. Only Bharat will remain, just like the small modelspeople make. It would not be in the intellect of anyone how death will finally come. You know that death is standing just ahead. Those people say that they will send bombs from where they are sitting and that everything will be destroyed wherever they drop. There will be no need for armies etc. Even one aeroplane costs tens of millions. Everyone has so much gold. They have tons and tons of gold which will all go into the ocean. The whole of this kingdom of Ravan is an island. There are countless human beings. All of you are establishing your own kingdom, and so you should remain busy in service. Look how busy everyone becomes when there is a flood somewhere. They engage themselves in the service of making sure food reaches everyone. They start running in advance, as soon as the water starts coming in. So, just think about how everything will be destroyed. All around the world, there is the ocean. When destruction takes place, there will be water everywhere. It remains in your intellects that that was your kingdom and that Bombay and Karachi etc. did not exist at that time. Such a small Bharat will remain, and that will also have rivers of sweet water. There, there is no need for wells etc. They have very clean drinking water there. They play games on the river banks. There is no question of any dirt there; the very name is heaven, the land of immortality. When people hear that name, they desire to study quickly with the Father and claim their full inheritance; to study and then teach others and give everyone the message. Those who claimed their inheritance in the previous cycle will claim it again. They will continue to make effort because the poor people don’t know the Father. The Father says: Become pure. Why would those who receive heaven on the palms of their hands not remain pure? Say: Why would we not become pure for one birth since we are receiving the sovereignty of the world? God speaks: If you become pure in this final birth, you will become the masters of the pure world for 21 births. Simply follow My shrimat in this one birth. Raksha Bandhan (Bond of Protection) is a symbol of this. So, why would we not be able to remain pure? The unlimited Father guarantees this. The Father gave Bharat the inheritance of heaven which was called the land of happiness. There was limitless happiness, whereas this is the land of sorrow. If you explain this to even one eminent person, everyone else will also continue to listen to you. Speak to them whilst in a state of yoga and everyone will even forget the time etc. No one will be able to say anything. Instead of 15 to 20 minutes, they will sit there listening to you for even an hour. However, you need that power. There shouldn’t be any body consciousness. Here, you have to do service, and nothing but service, for only then will there be benefit. You have to become kings, but you haven’t created the subjects yet. The Father will not give you that position just like that. Do subjects become doublecrowned? Your aim and objective is to become doublecrowned. The Father gives you children enthusiasm. You have the sins of many births on your heads. They can only be cut away with the power of yoga. However, you can understand what you have done in this birth. You are taught yoga in order to have your sins cut away. It is not just a question of this birth. The Father sits here and tells you the way to become satopradhan from tamopradhan. However, for blessings and mercy, go and ask the sages and holy men! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to go to the land of immortality, fill yourselves with the treasures of happiness at the confluence age. Do not waste your time. Fill your aprons, become merciful and become sticks for the blind.
  2. In order to receive heaven on the palms of your hands, you definitely have to become pure. Create methods to make yourself satopradhan and have mercy for yourself. Accumulate the power of yoga.
Blessing: May you become an embodiment of success by not being afraid on seeing clouds of adverse situations, but by crossing over them in a second.
Some children are very clever in making up stories like the scholars who debate the scriptures. They make up such stories that even the Father is amused when He hears them, but others become impressed by them. All of those many different wasteful situations continue to create a roll on a wasteful register. Therefore, fly high above those things; be innocent. Look at the Father, not the situations. Those situations are like clouds – crossover them in a second and become an embodiment of success.
Slogan: To have a question mark over any situation means to start an account of waste.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 5 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 July 2018 :- Click Here

05/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget everything including your bodies and become complete beggars. Connect your intellects in yoga to the land of Shiva and the land of Vishnu.
Question: In which aspect do you children have to become generous hearted like the Father?
Answer: Just as Baba becomes generous hearted and takes everything worth straws from you and gives you the sovereignty of the world, in the same way, you too have to become generous hearted. Open this Godly U niversit y everywhere. If even three or four people claim a good status, that is great fortune. Become worthy and reveal the Satguru. Never ask anyone for money.
Song: Do not forget the days of your childhood. 

Om shanti. All of these songs are to entertain the children. BapDada and Mama: there are two Mamas – the dadi (grandmother) and the mother. This one is your grandmother as well. You are the daughters of Brahma and the granddaughters of Shiva. Mama is Saraswati, a daughter of Brahma and granddaughter of Shiv Baba. Jagadamba has become the instrument to look after you children. Shiv Baba has many forms. He plays with you and entertains you a great deal. Festivities are for entertainment. When an engagement takes place, they celebrate with a lot of festivity. Then, before they get married, they both wear torn clothes. Oil is also applied on them. That custom is of this time. Baba explains to you children: You have to become complete beggars. If you don’t have anything, you will receive everything. Nothing should remain: not even your body should remain. Connect your intellects in yoga to the land of Shiva and the land of Vishnu. You should not be attracted to anything else. Look how Baba entertains you! These are the many secrets of Baba. Look how much Meera too is praised. She threw away concern for society just for purity. She became so glorified, but she didn’t even receive nectar. She just had love for Krishna. She thought she would go to the land of Krishna just as a wife sacrifices herself when her husband dies; that was why she renounced poison. It wasn’t that Meera went to the land of Krishna by remembering him. There was no land of Krishna then. It must be about 500 to 700 years since Meera existed. She was a very good devotee and so she must have taken birth to a very good devotee. She has become so famous. She was Meera, a devotee. You become the true Meeras of knowledge. You have come here to become the sun and moon-dynasty empresses. Although the uneducated first bow down to the educated, they will still become empresses. If you forget your childhood and let go of Baba’s hand, you will never become an empress. You will receive an even lower status among the subjects. You will go to Paradise, but you will receive a low status. Baba has explained that you should ask those who perform devotion: What do you want? Why do you worship Krishna? You must surely desire to go to his kingdom, but how can you go there? Many people say that they want peace. However, there is peacelessness throughout the whole world. What would happen by just you yourself receiving peace? I can make you constantly happy for 21 births. Deities were constantly happy in just Bharat alone. That kingdom is now being established. Here, it is the kingdom of Maya, and so you cannot receive peace. There is a separate place for peace and a separate place for happiness. The land of happiness means everyone is happy. Not a single person remains unhappy there whereas not a single person in the land of sorrow remains happy. As are the kings and queens, so the subjects. Here, all are unhappy. In the land of happiness, even the animals are never unhappy. The land of peace, which is also called the land of nirvana, is separate. They say Buddha went beyond, to the land of nirvana, but no one has gone there. If he did go there, what did he achieve before he went? All are unhappy here; they are all fighting. Burma and Ceylon belong to the Buddhists. They say that the Hindus should leave their land. They are unable to tolerate them. Baba also sees that there are now many religions and that this is why they are unable to tolerate anything. Therefore, they immediately get rid of everyone. In the golden age there is just the one religion. You children have all of this knowledge in your intellects. You should take the pictures with you and go and do service for those in the stage of retirement. You should push your way into the temples and have a chit-chat with them. A Shiva lingam is shown in front of Shankar. Therefore, He must definitely be greater than Shankar. If Shankar is a form of God, what is the need to place a Shiva lingam in front of him? All of that has been spread by the sannyasis. They call themselves those who have knowledge of the brahm element and the five elements. They don’t even know about Shiva. The brahm element is the place of residence. Those people don’t even consider the brahm element and the element to be one and the same. Achcha, if they are those who have knowledge of the brahm element or knowledge of the elements, why do they call themselves Shiva? They believe Shiva and the brahm element to be one. If there is just the one, why are three separate names given? Shiva is worshipped in the form of a lingam (oval shape). In what form have they shown the worship of the brahm element, that is, the element of light? That is the place of residence. People are very confused. You children now have to become clever. Among the sannyasis, those who originally belonged to the deity religion would emerge and quickly take this knowledge. Those who have been converted to other religions three or four births earlier will not emerge as quickly. Those who have recently been converted will emerge quickly. Baba has that attraction (pull). Souls are the needle and Baba is the Magnet. Needles have now become rusty. How can a rusty needle go up above? Rusty objects are dipped in kerosene. Baba removes everyone’s rust with the nectar of knowledge. Then we will become real gold. You are now changing from lords of stone to lords of divinity. Bharat was the land of divinity. Look how expensive gold has now become. It will then become very cheap there. This Bharat has now become the land of stone and it will then become the land of divinity. This cycle continues to turn in our intellects. Only when the cycle turns in your intellects throughout the day will you become kings and queens who are rulers of the globe. No one in the world knows these things. You know that those who rule in the golden age take 84 births and that those who come in the silver age surely take fewer births. There is such a vast difference between 84 births and 8.4 million births that people have portrayed. In that case, for you to take that many births, the cycle would also have to be just as long. All of those things are lies. You should always first of all place the picture in front of them. You must never ask for money for it. Your duty is to give it to them. Whatever they want to give, they will give that by themselves. If anyone asks you the cost of it, tell them that Baba is the Lord of the Poor and that it is free for the poor but, however much money a wealthy person gives, we can then print many more pictures with that money. We don’t use the money given to us for ourselves. Whatever we receive is used to serve others. It is the wealthy people who will build dharamshalas etc. Yes, the poor can also build them. There is no expense in that. Similarly, the mothers of the village of Kakod say that they want to open a centre. If even three or four people claim a good status from such a Godly U niversity, it is their great fortune. You have to be generous hearted in this. Look how generous hearted Baba is. He takes everything worth straws from you and gives you the sovereignty. Only worthy children can do Baba’s service. What would unworthy ones do? The Father does not give the inheritance to unworthy ones. You have to reveal the Satguru. If you become lustful or angry, it means you have defamed the Satguru and you won’t be able to receive a status. A lot of care has to be taken. You have to explain to people of all religions. Also explain to the Muslims: You pray to Khuda (God) and so you are definitely His devotees. So, where is Khuda? Khuda alone can give you the knowledge of the Creator and creation. He resides in the land of peace. By remembering Him, you can claim the inheritance of peace. By claiming your inheritance, your sins will be absolved and you will then go to Khuda. This knowledge is for those of all religions. This is something completely new. Your boat goes across with knowledge and you don’t need to go anywhere else. Therefore, sweet children, you are now going to heaven and so you definitely need to become pure. Look, there isn’t purity in Bharat and so they continue to stumble around. There is so much chaos. Whatever Gandhiji taught before he departed, people are following him in that. When the road sweepers, labourers and drivers etc. go on strike, they cause so many problems for the Government. The Government asks them very clearly: How can we cover the expenses for so many? People then reply: You enjoy yourselves very much and just continue to accumulate wealth. What crime have we committed? We need a wage. When they go on strike, their work comes to a halt. All of this has to happen. Sometimes, you won’t be able to get vegetables or grain or even milk. There is conflict everywhere. After all of this chaos, there will be peace. Arjuna was granted a vision of destruction and of the land of Vishnu. You too are now having those visions. Look, you are such beloved children. You have come and met Baba at the end of your many births and so, claim your full fortune. (There was a lot of heavy rainfall.) Look, there has been a lot of rain of Baba’s knowledge and there has also been a lot of physical rain. People create sacrificial fires for rain and also for peace, but only the one God is peaceful. Only when He comes can He give knowledge for peace. He is the One who gives knowledge. Good children are called tollput (sweet children). Sweet toli is given. That is a physical sweet whereas this is the spiritual sweet that the spiritual Father gives you. It is a high destination to remain soul conscious. Effort is required for that. Baba says: Be soul conscious for eight hours. Then you can also do your work for your own livelihood. If you stay awake at night, you will be able to have very good yoga. This is an income. O children, who are conquerors of sleep, remember Me in every breath. Churn the ocean of knowledge. The more you stay in yoga day and night, the more your sins will be absolved. The more you churn knowledge, the more income you will earn. However, there is also a lot of serviceto be done. If you ask Baba, Baba would say: You may just sit here! Have a rest! There is no need to ask about this. Was Baba concerned about what people or society would say? Oh! but you are receiving the sovereignty. However, each one does have his own part to play. Then you can ask Baba. Each one has to ask for advice because each one’s karmic bondages are different. If you have money, use it in a worthwhile way for spiritual service. You children have to become mahavirs. It is remembered: Mine is one Shiv Baba and none other. He is the Father of everyone. Shiv Baba says: I have come to take everyone back. The Father says: Not a single human being in this world is trikaldarshi or a theist. All are atheists: they don’t know the Father. However, there are many with occult powers. Maya too is no less. You have to conquer this Maya. This is why you should always wear your armour. Armour means “Manmanabhav”. Remember Shiv Baba and become soul conscious. Only once, in this final birth, do you become soul conscious. Then, from the golden age to the iron age no one will give you teachings to become soul conscious. It is only at this time that you have to become soul conscious because you now have to shed your bodies and come to Me. Why should deities become soul conscious? They don’t have to return home. You receive this knowledge at this time. You came bodiless and you then adopted bodies and played your part s and you now have to shed your bodies and return home. You have to make your stage firm and conquer Maya. You have to live at home with your families. When swans and storks live together, there are obstacles. A great many assaults from devils have to be tolerated. While sitting at home, you have to make the firm promise: Baba, no matter what happens I will definitely claim my inheritance from You. Some experience so much beating. According to the drama, those part s were also enacted in the previous cycle. Those who tolerate a lot of beating have great fortune. At least, you have still come and met Baba! Therefore, your reward is created. Yes, it does require effort to change from devils to deities. For as long as you live, continue to drink the nectar of knowledge. Baba continues to explain new things. He continues to show you methods. This is called churning the ocean of knowledge. You should use the churning stick of the intellect. Remember Shiv Baba at night before going to sleep. If you are interested in doing service, you won’t be able to sleep. You will continue to have thoughts about it: What should I explain about this point? You have to grind the knowledge very well into you. Only when you ‘rub’ knowledge will you become worthy of claiming the tilak of sovereignty (sandalwood paste). You should follow the clever children. The income is huge. Those who have hundreds of thousands and millions will all be destroyed. In just a short time, see what will happen! People will then awaken. Rehearsals for war will continue to take place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be attracted to anything. Remain soul conscious. Always wear the armour of remembrance.
  2. Conquer sleep and remember the Father in every breath. Churn knowledge and accumulate an income. Use the churning stick of the intellect.
Blessing: May you be filled with all attainments and always remain free from having to work hard in your Brahmin life.
In this Brahmin life, you become complete with the three relationships of the Bestower, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings so that you stay in spiritual pleasure without having to make any effort. Remember the Father in the form of the Bestower and you will have the intoxication of having spiritual rights. Remember Him in the form of the Teacher and you will have the intoxication of the fortune of being a Godly student. The Satguru is making you move along with blessings at every moment. The elevated directions for everything you do are blessings from the Bestower of Blessings. Remain filled with all attainments and you will become free from having to work hard.
Slogan: Lightness and subtlety of the intellect form is the most beautiful personality .

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 July 2018

To Read Murli 4 July 2018 :- Click Here
05-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देह सहित सब कुछ भूल पूरा बेगर बनो, शिवपुरी और विष्णुपुरी से अपना बुद्धि-योग लगाओ”
प्रश्नः- किस बात में तुम बच्चों को बाप समान फ्राकदिल बनना है?
उत्तर:- जैसे बाबा फ्राकदिल बन तुम बच्चों से कखपन ले तुम्हें विश्व की बादशाही देते हैं। ऐसे तुम्हें भी फ्राकदिल बनना है। जगह-जगह पर गाडली युनिवर्सिटी खोल दो। 3-4 ने भी अच्छा पद पाया तो अहो सौभाग्य। सपूत बन सतगुरू का शो करो। कभी भी किसी से पैसा आदि नहीं मांगो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना… 

ओम् शान्ति। बच्चों को बहलाने के लिए यह सब गीत हैं। बापदादा और मम्मा। मम्मायें दो होती हैं। दादी (ग्रैन्ड मदर) और माता। यह तुम्हारी दादी भी है। तुम ब्रह्मा की बच्चियां हो और शिव की पोत्रियां हो। मम्मा भी ब्रह्मा की बच्ची सरस्वती है। शिवबाबा की पोत्री है। बच्चों को सम्भालने के लिए जगत अम्बा निमित्त बनी हुई है। शिवबाबा है बहुरूपी। वह बहुत खेलपाल करते हैं। स्वहेज़ (मनोरंजन) होते हैं ना। जब सगाई होती है तो बहुत स्वहेज़ करते हैं और जब शादी का समय होता है तो दोनों ही फटे हुए कपड़े पहनते हैं। तेल लगाते हैं। यह रसम भी यहाँ की है। तुम बच्चों को भी बाबा समझाते हैं पूरा बेगर बनना है। कुछ भी नहीं होगा तो सब कुछ मिल जायेगा। देह सहित कुछ भी न रहे। शिवपुरी, विष्णुपुरी तरफ ही बुद्धियोग लगाना है। और कोई चीज़ में आसक्ति नहीं हो, तो देखो बाबा बच्चों को बहलाते हैं। यह भी बाबा के अनेक राज़ हैं। देखो मीरा का कितना गायन है। लोकलाज़ खोई सिर्फ इस पवित्रता के कारण। कितना नाम निकला है। उनको तो अमृत भी नहीं मिला। सिर्फ कृष्ण से प्रीत थी। कृष्णपुरी में जाऊंगी इसलिए विष को छोड़ा। जैसे पति के पिछाड़ी स्त्री सती बनती है ना। अब ऐसे तो नहीं मीरा याद करते-करते कृष्णपुरी में गई। कृष्णपुरी तो है नहीं। मीरा को 5-7 सौ वर्ष हुआ होगा। भक्तिन बहुत अच्छी थी इसलिए कोई अच्छे भक्त के घर जन्म लिया होगा। उनका नामाचार कितना चला आता है। यह तो भक्त मीरा थी, तुम सच्ची ज्ञान मीरायें बनती हो। तुम आई ही हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी महारानी बनने के लिए। भल पहले अनपढ़े पढ़े आगे भरी ढोते हैं। परन्तु महारानी तो बनेंगी ना। अगर बचपन को भूल हाथ छोड़ दिया फिर तो कभी नहीं महारानी बनेंगी और ही प्रजा में भी कम पद पायेंगी। वैकुण्ठ में तो आयेंगे परन्तु कम पद। बाबा ने समझाया है भक्ति करने वालों से भी पूछना चाहिए कि तुम क्या चाहते हो? कृष्ण की भक्ति क्यों करते हो? जरूर दिल होगी उनकी राजधानी में जायें। परन्तु वहाँ जायेंगे कैसे? बहुत मनुष्य कहते हैं हमको शान्ति चाहिए। परन्तु अशान्ति तो सारी दुनिया में है ना। तुम एक को शान्ति मिलने से क्या होगा। हम तुमको 21जन्मों के लिए सदा सुखी बना सकते हैं। देवतायें इस भारत में ही सदा सुखी थे। अब वह राजधानी स्थापन हो रही है। यहाँ तो है ही माया का राज्य। शान्ति मिल नहीं सकती। शान्ति के लिए अलग जगह है, सुख के लिए अलग जगह है। सुखधाम माना सब सुखी। कोई एक भी दु:खी नहीं रहता। और दु:खधाम में फिर एक भी सुखी नहीं रहता। यथा राजा रानी तथा प्रजा यहाँ सब दु:खी ही दु:खी हैं। सुखधाम में तो जानवर भी कभी दु:खी नहीं होते। शान्ति की दुनिया अलग है, जिसको निर्वाणधाम कहते हैं। बुद्ध पार निर्वाण गया। परन्तु गया कोई भी नहीं है। अगर खुद चला गया फिर क्या करके गया। सब दु:खी ही दु:खी हैं। सब लड़ रहे हैं। बर्मा, सीलान बौद्धियों की है। वह भी कहते हिन्दू निकल जाएं। सहन नहीं कर सकते। अब बाबा भी देखते हैं अनेक धर्म हो गये हैं तो सहन नहीं कर सकते हैं, इसलिए सबको एकदम निकाल देते। सतयुग में सिर्फ एक धर्म रहता है। यह सब ज्ञान तुम बच्चों की बुद्धि में है। चित्र हाथ में उठाए वानप्रस्थियों की सर्विस करनी चाहिए। मन्दिरों में घुस जाना चाहिए। उन्हों से जाकर चिटचैट करनी चाहिए। शंकर के आगे शिवलिंग दिखाते हैं। तो जरूर वह शंकर से बड़ा हुआ ना! अगर शंकर भगवान का रूप है तो फिर उनके सामने शिवलिंग रखने की क्या दरकार है! यह सब सन्यासियों का फैलाव है, वह अपने को ब्रह्म ज्ञानी तत्व ज्ञानी कहलाते हैं। शिव का तो उन्हें पता भी नहीं है। ब्रह्म तत्व तो रहने का स्थान है। वे तो ब्रह्म और तत्व को एक नहीं मानते हैं। अच्छा ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी हैं फिर अपने को शिव क्यों कहलाते हैं? वह तो समझते शिव भी एक ही है, ब्रह्म भी एक ही है। अगर एक ही है तो भला तीन नाम अलग-अलग क्यों किये हैं? शिव की तो लिंग रूप में पूजा होती है। ब्रह्म अथवा तत्व की पूजा किकस रूप में दिखलाई है? वह तो है रहने का स्थान। मनुष्य तो बहुत मूँझे हुए हैं। तुम बच्चों को अब होशियार होना है। सन्यासियों से भी कोई निकलेंगे, जो असुल देवी-देवता धर्म के होंगे वह झट उठा लेंगे। कोई 3-4 जन्मों से कनवर्ट हुए होंगे तो इतना जल्दी नहीं निकलेंगे। ताजे गये हुए होंगे तो झट निकलेंगे। बाबा में कशिश है ना। आत्मायें हैं सुई, बाबा है चुम्बक। अब सुईयों पर कट चढ़ी हुई है। कट वाली सुई ऊपर जाये कैसे। जंक वाली चीज़ घासलेट में डाली जाती है। बाबा इस ज्ञान अमृत से सबकी कट निकालते हैं, फिर हम सच्चा सोना बन जायेंगे। तुम पत्थरनाथ से अब पारसनाथ बनते हो। भारत पारसपुरी थी। अब सोने का दाम कितना चढ़ गया है। फिर वहाँ बहुत सस्ता हो जायेगा। अब यह भारत पत्थरपुरी बना है। फिर पारसपुरी बनेगा। हमारी बुद्धि में वह चक्र फिरता रहता है। सारा दिन चक्र बुद्धि में फिरेगा तब ही चक्रवर्ती राजे-रानी बनेंगे। दुनिया में इन बातों को कोई भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो सतयुग में जो राज्य करते उनके 84 जन्म, फिर त्रेता वालों के जरूर कम होंगे। कहाँ 84जन्म कहाँ 84 लाख दिखलाते हैं। फिर तो कल्प भी इतना लम्बा चाहिए, जो इतने जन्म हों। हैं सब गपोड़े। हमेशा पहले तो चित्र सामने दे देना चाहिए। पैसा तुम कभी नहीं मांगो। तुम्हारा काम है उनको देना। कुछ भी देना होगा तो आपेही देगा। कोई दाम पूछे तो बोलो बाबा तो गरीबनिवाज है। गरीबों के लिए तो फ्री है। बाकी साहूकार जितना देंगे उतना हम और भी छपायेंगे। पैसा कोई हम अपने काम में नहीं लगाते हैं। जो मिलता है वह औरों के ही काम में लगाया जाता है। साहूकार ही तो धर्मशाला आदि बनायेंगे ना। हाँ गरीब भी बना सकते हैं, इसमें खर्चा कुछ नहीं है। जैसे ककोड़ गांव की माता कहती है मैं सेन्टर खोलूँ। ऐसी गाडली युनिवर्सिटी में 3-4 ने भी अच्छा पद पा लिया तो अहो भाग्य उनका। इसमें फ्राकदिल होना चाहिए। बाबा देखो कितना फ्राकदिल है। कखपन ले और बादशाही दे देते हैं। सपूत बच्चे ही बाबा की सर्विस कर सकते हैं। कपूत क्या करेंगे। कपूत को थोड़ेही बाप वर्सा देंगे। तुमको भी सतगुरू का शो करना है। काम अथवा क्रोध में आये तो गोया सतगुरू की निंदा कराई फिर पद पा नहीं सकेंगे। बहुत सम्भाल करनी चाहिए।

तुमको सब धर्म वालों को समझाना है। मुसलमानों को भी समझाओ – तुम खुदा की बन्दगी करते हो तो जरूर बन्दे ठहरे। भला खुदा कहाँ है? खुदा ही रचयिता और रचना का नॉलेज बता सकते हैं। वह तो रहते हैं शान्तिधाम में। उनको याद करने से तुम शान्ति का वर्सा ले सकते हो। वर्सा लेते-लेते विकर्म विनाश हो जायेंगे और फिर तुम खुदा के पास चले जायेंगे। यह ज्ञान सब धर्मो के लिए है। यह है बिल्कुल नई बात। ज्ञान से तुम्हारा बेड़ा पार हो जाता है और कहीं जाने की दरकार ही नहीं रहती। तो मीठे बच्चे अब तुम स्वर्ग में चलते हो तो पवित्र जरूर बनना है। देखो भारत में पवित्रता नहीं है तो धक्के खाते रहते हैं। कितने हंगामें हैं – जो गांधी सिखलाकर गये हैं, प्रजा फॉलो कर रही है। मेहतर, मजदूर, ड्राइवर आदि स्ट्राइक करते हैं तो गवर्मेन्ट का दम ही नाक में चढ़ा देते हैं। गवर्मेन्ट उन्हों को साफ कह देती इतना खर्चा हम लायें कहाँ से। तो वह कहते तुम तो मौज उड़ाते हो, धन ही धन इकट्ठा करते रहते हो। हमने गुनाह थोड़ेही किया है, हमको तलब (पघार) चाहिए। स्ट्राइक कर लेते तो धंधा ठहर जाता है। यह सब होना ही है। कहाँ अनाज सब्जी नहीं मिलेगी, दूध नहीं मिलेगा। जहाँ तहाँ खिटपिट है। यह सब हंगामा होकर शान्ति होगी। अर्जुन को विनाश का और विष्णुपुरी का साक्षात्कार कराया है ना। तुमको भी अब हो रहा है। देखो तुम कितने लाडले बच्चे हो। बहुत जन्मों के अन्त में आकर मिले हो तो पूरा सौभाग्य लो।

(बारिश बहुत तेज पड़ रही थी) देखो बाबा की भी ज्ञान वर्षा बहुत हुई है तो उस बारिश की भी बहुत वर्षा हुई है। बारिश के लिए भी यज्ञ रचते हैं तो पीस के लिए भी यज्ञ रचते हैं, परन्तु पीसफुल तो एक भगवान है। वह जब आये तो शान्ति का ज्ञान देवे। देने वाला तो वही है ना। अच्छे बच्चों को टोलपुट कहा जाता है। मिठाई खिलाई जाती है वह जिस्मानी मिठाई, यह है रूहानी मिठाई जो रूहानी बाप देते हैं। देही-अभिमानी हो रहना बड़ी मंजिल है, इसमें मेहनत है। बाबा कहते 8 घण्टा तो देही-अभिमानी बनो। फिर भल शरीर निर्वाह अर्थ काम भी करो। रात को जागो तो बहुत अच्छी लगन लगेगी। कमाई है ना। हे नींद को जीतने वाले बच्चे मुझे श्वाँसों श्वाँस याद करो। विचार सागर मंथन करो। रात दिन जितना योग में रहेंगे, विकर्म विनाश होंगे। जितना-जितना ज्ञान का सिमरण करेंगे उतनी कमाई होगी। बाकी सर्विस तो बहुत है। बाबा से पूछेंगे तो बाबा कहेंगे बैठे रहो। आराम करो। इसमें पूछने की दरकार नहीं। बाबा ने लोकलाज कुल का कुछ ख्याल किया क्या! अरे बादशाही मिलती है। बाकी हाँ हरेक का अपना-अपना पार्ट है। फिर बाबा से पूछना है। हरेक को अपनी-अपनी राय पूछनी है क्योंकि हरेक का कर्मबन्धन अलग है। पैसे हैं तो अलौकिक सर्विस में सफल करने हैं। बच्चों को महावीर बनना है। गाया भी हुआ है मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। वही सबका बाप है। शिवबाबा कहते हैं मैं सभी को वापिस ले जाने आया हूँ। बाप कहते हैं इस दुनिया में एक भी मनुष्य त्रिकालदर्शी आस्तिक नहीं हैं। सब नास्तिक हैं। बाप को न जानने वाले। बाकी रिद्धि सिद्धि वाले बहुत हैं। माया भी कोई कम नहीं है, इस माया पर ही जीत पानी है इसलिए कवच पड़ा रहे। कवच का अर्थ ही है मनमनाभव। शिवबाबा को याद करो, देही-अभिमानी बनो। इस अन्तिम जन्म में तुम एक ही बार देही-अभिमानी बनते हो। फिर सतयुग से कलियुग तक यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा कोई देता ही नहीं। इस समय ही देही-अभिमानी बनना पड़ता है क्योंकि अब शरीर छोड़ मेरे पास आना है। देवतायें देही-अभिमानी क्यों बनें, उनको वापिस थोड़ेही जाना है। यह ज्ञान अभी तुमको मिलता है। तुम अशरीरी थे फिर यह शरीर धारण कर पार्ट बजाया, अब फिर शरीर छोड़ वापिस जाना है। अपनी अवस्था को जमाना है। माया पर जीत पानी है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। हंस बगुले इक्ट्ठे रहते हैं तो विघ्न पड़ते हैं। असुरों के सितम भी बहुत सहन करने हैं। घर बैठे प्रण कर लेते हैं, बाबा कुछ भी हो जाए हम आपसे वर्सा तो जरूर लेंगे। कितनी मार खाते हैं। ड्रामा अनुसार यह पार्ट कल्प पहले भी चला था। जो बहुत सितम सहन करते हैं वही सौभाग्यशाली हैं। फिर भी आकर मिले हैं ना! उनकी प्रालब्ध तो बन गई ना। हाँ इसमें मेहनत है, असुर से देवता बनना है। जब तक जीते हैं ज्ञान अमृत पीना ही है। बाबा नई-नई बातें समझाते रहते हैं। युक्तियां बताते रहते हैं। इसको विचार सागर मंथन कहा जाता है। बुद्धि की मथानी चलानी चाहिए। रात को भी शिवबाबा को याद कर सो जाओ, सर्विस का शौक होगा तो उनको नींद थोड़ेही आयेगी। ख्यालात चलता रहेगा। इस प्वाइंट पर क्या-क्या समझायें। ज्ञान को अच्छी रीति अन्दर घोटना है। जब ज्ञान घिसेंगे तब ही राजतिलक लेने के लायक बनेंगे। जो तीखे-तीखे बच्चे हैं उन्हों को फॉलो करना चाहिए, बड़ी जबरदस्त कमाई है, जिनके पास लाख करोड़ हैं वे सब खलास हो जायेंगे। थोड़े टाइम में देखना क्या होता है। फिर मनुष्य जागेंगे। लड़ाई आदि की रिहर्सल होती रहेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी चीज़ में आसक्ति नहीं रखनी है। देही-अभिमानी होकर रहना है। याद का कवच सदा पहनकर रखना है।

2) नींद को जीत श्वाँसों श्वाँस बाप को याद करना है, ज्ञान का सिमरण कर कमाई जमा करनी है। बुद्धि की मथानी चलानी है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा मेहनत से मुक्त रहने वाले सर्व प्राप्ति सम्पन्न भव
इस ब्राह्मण जीवन में दाता, विधाता और वरदाता – तीनों संबंध से इतने सम्पन्न बन जाते हो जो बिना मेहनत रूहानी मौज में रह सकते हो। बाप को दाता के रूप में याद करो तो रूहानी अधिकारीपन का नशा रहेगा। शिक्षक के रूप में याद करो तो गॉडली स्टूडेन्ट हूँ, इस भाग्य का नशा रहेगा और सतगुरू हर कदम में वरदानों से चला रहा है। हर कर्म में श्रेष्ठ मत-वरदाता का वरदान है। ऐसे सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न रहो तो मेहनत से मुक्त हो जायेंगे।
स्लोगन:- बुद्धि का हल्कापन व महीनता ही सबसे सुन्दर पर्सनालिटी है।
Font Resize