daily murli 5 august

TODAY MURLI 5 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 August 2020

05/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this most elevated, confluence age is the age of benevolence. It is in this age that you have to become the masters of the land of Shri Krishna by studying.
Question: Why does the Father place the urn of knowledge on the mothers? What is the one system that only continues in Bharat?
Answer: The Father places the urn of knowledge on the mothers so that they can make everyone become pure from impure by tying a rakhi of purity on them. Only in Bharat does the system of Raksha Bandhan exist. A sister ties a rakhi on her brother. This symbolises purity. The Father says: Children, remember Me alone and you will become pure; you will become the masters of the pure world.
Song: No one is as unique as the Innocent Lord.

Om shanti. This is the praise of the Innocent Lord, the One who is called the Bestower. You children know who gave Shri Lakshmi and Narayan the fortune of their kingdom. It must definitely have been God who gave it because He is the One who establishes heaven. Just as the Innocent Lord gave the sovereignty of heaven to Lakshmi and Narayan, so He also gave it to Krishna. Whether you say Radhe and Krishna or Lakshmi and Narayan, it is the same thing. However, there is no kingdom now. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can give them their kingdom. Their births are said to be in heaven. Only you children know this. Only you children can explain about the birthday of Krishna. Since there is the birthday of Krishna, there must also be one for Radhe because both were residents of heaven. Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan after their marriage. The main aspect is: Who gave them their kingdom? Who taught them this Raj Yoga and when? It would not have been taught in heaven. In the golden age they are the most elevated beings. The golden age comes after the iron age. Therefore, they would surely have learnt Raj Yoga at the end of the iron age so that they could attain their kingdom in their new birth. The old world changes into the pure, new world. The Purifier must definitely have come. Now, no one knows what religion exists at the confluence age. This most elevated confluence age that has been remembered is between the old world and the new world. Lakshmi and Narayan are the masters of the new world. The Supreme Father, the Supreme Soul, taught those souls Raj Yoga in their previous birth. In their new birth, they receive the reward of the efforts they make at this time. This is called the most elevated, benevolent, confluence age. Someone must surely have taught them Raj Yoga at the end of their many births. In the iron age there are many religions whereas in the golden age there is just the one deity religion. What is the religion that exists at the confluence age in which they make effort and study Raj Yoga to attain their reward in the golden age? It is understood that Brahmins are created through Brahma at the confluence age. It is also shown in the pictures that the land of Krishna is established through Brahma. Whether you call it the land of Vishnu or the land of Narayan, it is the same thing. You now know that you are becoming the masters of the land of Krishna through studying this and by becoming pure. These are the versions of God Shiva. It is the Krishna soul who becomes this at the end of his many births; he takes 84 births. In this 84th birth, he is named Brahma. Otherwise, where else would Brahma have come from? If God created creation, then where did Brahma, Vishnu and Shankar come from? How were they created? Was some magic performed that made them emerge? Only the Father tells you their history. When someone is adopted, his name is changed. This one did not have the name “Brahma” before. It is said, “At the end of many births…” Therefore, he must surely have been an impure human being. No one knows where Brahma came from. Whose last birth of many births is this? It can only have been Lakshmi and Narayan who took many births. The name, form, place and time continue to change. The story of 84 births is written clearly in the picture of Krishna. Many pictures of Krishna are sold at the time of Janamashtmi because everyone goes to a Krishna temple; they go to a temple of Radhe and Krishna. Radhe would definitely be with Krishna. Radhe and Krishna, the princessand prince, then become Lakshmi and Narayan, the empress and emperor. They take 84 births and become Brahma and Saraswati in their last birth. The Father enters him at the end of his many births and tells him: You don’t know about your births. You were Lakshmi and Narayan in your first birth. Then you took this birth. However, they have mentioned the name “Arjuna”, that Arjuna was taught Raj Yoga. They have made Arjun separate, but his name was not really Arjuna. There should be the life story of Brahma, but there is no mention of Brahma or the Brahmins anywhere. Only the Father sits here and explains these things. All of you children listen to these things and then explain them to others. They listen to devotional stories and then relate them to others. You listen to this and then relate it to others. This is the most elevated, confluence age, the leap age, the extra age. When there is the leap month, there are 13 months. The festivals they celebrate every year are of this confluence age. No one knows about this most elevated confluence age. It is at this confluence age that the Father comes and inspires you to make a promise to become pure. He establishes the pure world out of the impure world. The system of Raksha Bandhan only exists in Bharat. A sister ties a rakhi on the wrist of her brother, but that kumari then becomes impure. The Father has now placed the urn of knowledge on you mothers. This is why the Brahma Kumars and Kumaris inspire others to make a promise to become pure while they are tying a rakhi on them. The Father says: Remember Me alone and you will become pure and the masters of the pure world. However, there is no need to tie a rakhi etc. This is just an explanation given to you. Sages and sannyasis ask for donations. Some say: Give your anger as a donation. Some say: Don’t eat onions any more. They ask for the donation of whatever they themselves don’t eat. It is the unlimited Father who inspires you to make the most important promise of all. If you want to become pure, remember the Purifier Father. You have been becoming impure since the copper age. The whole world now has to become pure and only the Father can accomplish this. No human being can be the Bestower of Salvation for All. Only the Father makes you promise to become pure. Bharat used to be pure heaven. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Purifier. Krishna cannot be called the Purifier; he takes birth. His parents are also shown. It is Shiva alone who has a divine birth. He Himself gives His own introduction of how He enters an ordinary body. He definitely has to take the support of a body. I am the Ocean of Knowledge, the Purifier, and the One who teaches Raj Yoga. Only the Father is the Creator of heaven and the One who inspires the destruction of hell. Hell doesn’t exist when heaven exists. It is now the extreme depths of hell. When the iron age has become completely tamopradhan hell, the Father comes and creates satopradhan heaven. He makes it 100% pure from 100% impure. The first birth will definitely be satopradhan. You children have to churn the ocean of knowledge and give lectures. Each one’s way of explaining will be different. The Father Himself explains one thing today and something else tomorrow. It cannot be the same explanation all the time. Even if someone were to listen to these things accurately from a tape, he wouldn’t be able to relate them accurately; there would definitely be some difference. You know that everything that the Father tells you is fixed in the drama. He tells you today, word by word, exactly what he told you a cycle ago. This record is recorded. God Himself says: I speak to you the exact words that I spoke to you 5000 years ago. The shooting of this drama has already taken place. There cannot be the slightest difference in this. Such a tiny soul is filled with the record. You children understand when the birth of Krishna took place. It would be said to be a few days less than 5000 years before today because he is now studying. The new world is being established. You children should have so much happiness in your hearts. You know that the Krishna soul has been around the cycle of 84 births. He is now returning to the name and form of Krishna. It is shown in the picture how he is kicking the old world away and holding the new world on his palm. He is now studying. This is why it is said that Shri Krishna is coming. The Father definitely teaches him at the end of his many births. Krishna will take birth when this study comes to an end. Little time remains for this study. Krishna definitely has to take birth after all the innumerable religions have been destroyed. It will not just be Krishna alone; there will be the whole land of Krishna. It is you Brahmins who study Raj Yoga and then claim the deity status. You become deities through this knowledge. The Father comes and changes ordinary humans into deities through this study. This is a pathshala. This takes the most time. The study is easy; it is yoga that requires effort. You can tell them how the Krishna soul is now studying Raj Yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba is teaching us souls through Brahma in order to give us the kingdom of the land of Vishnu. We children of Prajapita Brahma are Brahmins. This is the confluence age. This is a very small age. The topknot is the smallest. Then, bigger than that is the face, then the arms, then the stomach and then the legs. They show a variety-form image, but no one is able to give an explanation of it. You children have to explain the secrets of the cycle of 84 births. After the birth of Shiva, there is the birth of Krishna. This confluence age is for you children; the iron age has finished for you. The Father says: Sweet children, I have now come to take you to the land of peace and the land of happiness. You were residents of the land of happiness and you then went to the land of sorrow. You call out: Baba, come to this old world. This is not your world. What are you doing now? You are establishing your world with the power of yoga. It is said that non-violence is the supreme religion of the deities. You have to become non-violent. Neither must you use the sword of lust nor must you fight or quarrel. The Father says: I come every 5000 years. It is not a question of hundreds of thousands of years. The Father says: While giving donations, doing tapasya and having sacrificial fires etc., you have continued to come down. It is only by studying knowledge that you can have salvation. Human beings are sleeping in the sleep of Kumbhakarna; they don’t awaken at all. This is why the Father says: I come every cycle. I too have a part in the drama. I cannot do anything without a part. I am also tied in the bondage of this drama. I come at my precise time. According to the dramaplan, I take you children back home. I now say: “Manmanabhav!” but no one understands the meaning of this. The Father says: Renounce all bodily relations and remember Me alone and you will become pure. You children continue to make effort to remember the Father. This is God’s University. There cannot be any other University of God that can grant salvation to the whole world. God, the Father, comes and changes the whole world Himself. He changes it from hell into heaven, where you rule. Shiva is also called Babulnath (Lord of Thorns) because He comes and liberates you from the sword of lust and purifies you. On the path of devotion there is a great deal of external show. Here, you have to remember the Father in silence. Those people do all types of hatha yoga etc. Their path of isolation is totally separate. They believe in the brahm element. Those who believe in that element are those who have yoga with the elements. That is the residence of souls which is called Brahmand. Those people consider the brahm element to be God and think that they will merge into that. This means that they make souls mortal. The Father says: I come and grant salvation to everyone. Only Shiv Baba grants salvation to everyone. Therefore, He is like a diamond. He takes you to the golden age. This birth of yours is also as valuable as a diamond. You then go into the golden age. It is the Father who comes and teaches you this knowledge through which you become deities. This knowledge then disappears. Lakshmi and Narayan neither have knowledge of the Creator nor of creation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While living in this old world, become doubly non-violent and establish your new world with the power of yoga. Make your life as valuable as a diamond.
  2. Churn the things that the Father tells you and then relate them to others. Constantly maintain the intoxication of knowing that when this study comes to an end you will go to the land of Krishna.
Blessing: May you truly die alive and transform all wastefulness with pure intentions and elevated feelings.
BapDada’s shrimat is: Children, Do not listen to anything wasteful, nor speak anything wasteful or think anything wasteful. Always think with pure feelings and speak auspicious words. Listen to anything wasteful with pure intentions. Be one who has pure and positive thoughts for others and they will transform the intentions behind the words. Always let your intentions and feelings be elevated. Transform yourself and do not think about transforming others. Transformation of the self becomes transformation of others. “In this, let me be first”. Only in this life of dying alive is there pleasure. This is known as the great sacrifice. In this, die happily. This dying is living; this is the true donation of life.
Slogan: With concentration of thoughts elevated transformation takes place at a fast speed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह पुरूषोत्तम संगमयुग कल्याणकारी युग है, इसमें ही पढ़ाई से तुम्हें श्रीकृष्ण-पुरी का मालिक बनना है”
प्रश्नः- बाप माताओं पर ज्ञान का कलष क्यों रखते हैं? कौन सी एक रिवाज़ भारत में ही चलती है?
उत्तर:- पवित्रता की राखी बांध सबको पतित से पावन बनाने के लिए बाप माताओं पर ज्ञान का कलष रखते हैं। रक्षाबन्धन का भी भारत में ही रिवाज़ है। बहन भाई को राखी बांधती है। यह पवित्रता की निशानी है। बाप कहते हैं बच्चे तुम मामेकम् याद करो तो पावन बन पावन दुनिया के मालिक बन जायेंगे।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। यह है भोलेनाथ की महिमा, जिसके लिए कहते हैं देने वाला है। तुम बच्चे जानते हो श्री लक्ष्मी-नारायण को यह राज्य-भाग्य किसने दिया। जरूर भगवान ने दिया होगा क्योंकि स्वर्ग की स्थापना तो वही करते हैं। स्वर्ग की बादशाही भोलेनाथ ने जैसे लक्ष्मी-नारायण को दी वैसे ही कृष्ण को दी। राधे-कृष्ण अथवा लक्ष्मी-नारायण की बात तो एक ही है। परन्तु राजधानी है नहीं। उन्हों को सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई राज्य दे नहीं सकते। उन्हों का जन्म स्वर्ग में ही कहेंगे। यह तुम बच्चे ही जानते हो। तुम बच्चे ही जन्माष्टमी पर समझायेंगे। कृष्ण की जन्माष्टमी है तो राधे की भी होनी चाहिए क्योंकि दोनों स्वर्ग के वासी थे। राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। मुख्य बात कि उन्हों को यह राज्य किसने दिया। यह राजयोग कब और किसने सिखाया? स्वर्ग में तो नहीं सिखाया होगा। सतयुग में तो वह है ही उत्तम पुरूष। कलियुग के बाद होता है सतयुग। तो जरूर कलियुग अन्त में राजयोग सीखे होंगे। जो फिर नये जन्म में राजाई प्राप्त की। पुरानी दुनिया से नई पावन दुनिया बनती है। जरूर पतित-पावन ही आया होगा। अब संगमयुग पर कौन-सा धर्म होता है, यह किसको पता नहीं। पुरानी दुनिया और नई दुनिया का यह है पुरूषोत्तम संगमयुग, जो गाया हुआ है। यह लक्ष्मी-नारायण हैं नई दुनिया के मालिक। इन्हों की आत्मा को आगे जन्म में परमपिता परमात्मा ने राजयोग सिखाया। जिस पुरूषार्थ की प्रालब्ध फिर से नये जन्म में मिलती है, इनका नाम ही है कल्याणकारी पुरूषोत्तम संगमयुग। जरूर बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में ही इन्हों को कोई ने राजयोग सिखाया होगा। कलियुग में हैं अनेक धर्म, सतयुग में था एक देवी-देवता धर्म। संगम पर कौन-सा धर्म है, जिससे यह पुरूषार्थ कर राजयोग सीखे और सतयुग में प्रालब्ध भोगी। समझा जाता है संगमयुग पर ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण ही पैदा हुए। चित्र में भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, कृष्णपुरी की। विष्णु अथवा नारायणपुरी कहो, बात तो एक ही है। अभी तुम जानते हो हम कृष्णपुरी के मालिक बनते हैं, इस पढ़ाई से और पावन बनने से। शिव भगवानुवाच है ना। कृष्ण की आत्मा ही बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में फिर यह बनती है। 84 जन्म लेते हैं ना। यह है 84 वां जन्म, इनका ही फिर ब्रह्मा नाम रखते हैं। नहीं तो फिर ब्रह्मा कहाँ से आया। ईश्वर ने रचना रची तो ब्रह्मा-विष्णु-शंकर कहाँ से आये। कैसे रचा? क्या छू मंत्र किया जो पैदा हो गये। बाप ही उन्हों की हिस्ट्री बताते हैं। एडाप्ट किया जाता है तो नाम बदलते हैं। ब्रह्मा नाम तो नहीं था ना। कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त में……. तो जरूर पतित मनुष्य हुआ। ब्रह्मा कहाँ से आया, किसको भी पता नहीं है। बहुत जन्मों के अन्त का जन्म किसका हुआ? वो तो लक्ष्मी-नारायण ने ही बहुत जन्म लिए हैं। नाम, रूप, देश, काल बदलता जाता है। कृष्ण के चित्र में 84 जन्मों की कहानी क्लीयर लिखी हुई है। जन्माष्टमी पर कृष्ण के चित्र भी बहुत बिकते होंगे क्योंकि कृष्ण के मन्दिर में तो सब जायेंगे ना। राधे-कृष्ण के मन्दिर में ही जाते हैं। कृष्ण के साथ राधे जरूर होगी। राधे-कृष्ण, प्रिन्स-प्रिन्सेज ही लक्ष्मी-नारायण महाराजा-महारानी बनते हैं। उन्हों ने ही 84 जन्म लिए फिर अन्त के जन्म में ब्रह्मा-सरस्वती बने। बहुत जन्मों के अन्त में बाप ने प्रवेश किया। और इनको ही कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। तुम पहले जन्म में लक्ष्मी-नारायण थे। फिर यह जन्म लिया उन्होंने अर्जुन का नाम कह दिया है। अर्जुन को राजयोग सिखाया। अर्जुन को अलग कर दिया है। परन्तु उनका नाम अर्जुन है नहीं। ब्रह्मा का जीवन चरित्र चाहिए ना। परन्तु ब्रह्मा और ब्राह्मणों का वर्णन कहाँ भी है नहीं। यह बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। सब बच्चे सुनेंगे फिर बच्चे औरों को समझायेंगे। कथा सुनकर फिर औरों को बैठ सुनाते हैं। तुम भी सुनते हो फिर सुनाते हो। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग, लीप युग। एक्स्ट्रा युग। पुरूषोत्तम मास पड़ता है तो 13 मास हो जाते हैं। इस संगमयुग के त्योहार ही हर वर्ष मनाते हैं। इस पुरूषोत्तम संगमयुग का किसको पता नहीं है। इस संगमयुग पर ही बाप आकर पवित्र बनाने की प्रतिज्ञा कराते हैं। पतित दुनिया से पावन दुनिया की स्थापना करते हैं। रक्षाबन्धन का भी भारत में ही रिवाज है। बहन भाई को राखी बांधती है। परन्तु वह कुमारी भी फिर अपवित्र बन जाती है। अभी बाप ने तुम माताओं पर ज्ञान का कलष रखा है। जो ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियाँ बैठ पवित्रता की प्रतिज्ञा कराने राखी बांधती हैं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम पावन बन पावन दुनिया के मालिक बन जायेंगे। बाकी कोई राखी आदि बांधने की दरकार नहीं है। यह समझाया जाता है। जैसे साधू-सन्यासी लोग दान माँगते हैं। कोई कहते हैं क्रोध का दान दो, कोई कहते हैं प्याज मत खाओ। जो खुद नहीं खाते होंगे वह दान लेते होंगे। इन सबसे भारी प्रतिज्ञा तो बेहद का बाप कराते हैं। तुम पावन बनना चाहते हो तो पतित-पावन बाप को याद करो। द्वापर से लेकर तुम पतित बनते आये हो, अब सारी दुनिया पावन चाहिए, वह तो बाप ही बना सकते हैं। सर्व का गति-सद्गति दाता कोई मनुष्य हो नहीं सकता। बाप ही पावन बनने की प्रतिज्ञा लेते हैं। भारत पावन स्वर्ग था ना। पतित-पावन वह परमपिता परमात्मा ही है। कृष्ण को पतित-पावन नहीं कहेंगे। उनका तो जन्म होता है। उनके तो माँ-बाप भी दिखाते हैं। एक शिव का ही अलौकिक जन्म है। वह खुद ही अपना परिचय देते हैं कि मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। शरीर का आधार जरूर लेना पड़े। मैं ज्ञान का सागर पतित-पावन, राजयोग सिखलाने वाला हूँ। बाप ही स्वर्ग का रचयिता है और नर्क का विनाश कराते हैं। जब स्वर्ग है तो नर्क नहीं। अभी पूरा रौरव नर्क है, जब बिल्कुल तमोप्रधान नर्क बनता है तब ही बाप आकर सतोप्रधान स्वर्ग बनाते हैं। 100 प्रतिशत पतित से 100 प्रतिशत पावन बनाते हैं। पहला जन्म जरूर सतोप्रधान ही मिलेगा। बच्चों को विचार सागर मंथन कर भाषण करना है। समझाना फिर हर एक का अलग-अलग होगा। बाप भी आज एक बात, कल फिर दूसरी बात समझायेंगे। एक जैसी समझानी तो हो न सके। समझो टेप से कोई एक्यूरेट सुने भी परन्तु फिर एक्यूरेट सुना नहीं सकेंगे, फ़र्क जरूर पड़ता है। बाप जो सुनाते हैं, तुम जानते हो ड्रामा में सारी नूंध है। अक्षर बाई अक्षर जो कल्प पहले सुनाया था वह फिर आज सुनाते हैं। यह रिकॉर्ड भरा हुआ है। भगवान खुद कहते हैं मैंने जो 5 हज़ार वर्ष पहले हूबहू अक्षर बाई अक्षर सुनाया है वही सुनाता हूँ। यह शूट किया हुआ ड्रामा है। इसमें फ़र्क ज़रा भी नहीं पड़ सकता। इतनी छोटी आत्मा में रिकार्ड भरा हुआ है। अब कृष्ण जन्माष्टमी कब हुई थी, यह भी बच्चे समझते हैं। आज से 5 हज़ार वर्ष से कुछ दिन कम कहेंगे क्योंकि अभी पढ़ रहे हैं। नई दुनिया की स्थापना हो रही है। बच्चों के दिल में कितनी खुशी है। तुम जानते हो कृष्ण की आत्मा ने 84 का चक्र लगाया है। अब फिर कृष्ण के नाम-रूप में आ रही है। चित्र में दिखाया है – पुरानी दुनिया को लात मार रहे हैं। नई दुनिया हाथ में है। अभी पढ़ रहे हैं इसलिए कहा जाता है – श्रीकृष्ण आ रहे हैं। जरूर बाप बहुत जन्मों के अन्त में ही पढ़ायेंगे। यह पढ़ाई पूरी होगी तो कृष्ण जन्म लेंगे। बाकी थोड़ा टाइम है पढ़ाई का। जरूर अनेक धर्मों का विनाश होने बाद कृष्ण का जन्म हुआ होगा। सो भी एक कृष्ण तो नहीं, सारी कृष्णपुरी होगी। यह ब्राह्मण ही हैं जो फिर यह राजयोग सीख देवता पद पायेंगे। देवतायें बनते ही हैं नॉलेज से। बाप आकर मनुष्य से देवता बनाते हैं – पढ़ाई से। यह पाठशाला है, इसमें सबसे जास्ती टाइम लगता है। पढ़ाई तो सहज है। बाकी योग में है मेहनत। तुम बता सकते हो कृष्ण की आत्मा अब राजयोग सीख रही है – परमपिता परमात्मा द्वारा। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा हम आत्माओं को पढ़ा रहे हैं, विष्णुपुरी का राज्य देने। हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ हैं। यह है संगमयुग। यह बहुत छोटा-सा युग है। चोटी सबसे छोटी होती है ना। फिर उनसे बड़ा मुख, उनसे बड़ी बांहें, उनसे बड़ा पेट, उनसे बड़ी टाँगे। विराट रूप दिखाते हैं, परन्तु उसकी समझानी कोई नहीं देते। तुम बच्चों को यह 84 जन्मों के चक्र का राज़ समझाना है, शिवजयन्ती के बाद है कृष्ण जयन्ती।

तुम बच्चों के लिए यह है संगमयुग। तुम्हारे लिए कलियुग पूरा हो गया। बाप कहते हैं – मीठे बच्चों, अब मैं आया हूँ तुमको सुखधाम, शान्तिधाम ले जाने लिए। तुम सुखधाम के रहवासी थे फिर दु:खधाम में आये। पुकारते हो बाबा आओ, इस पुरानी दुनिया में। तुम्हारी दुनिया तो नहीं है। अभी तुम क्या कर रहे हो? योगबल से अपनी दुनिया स्थापन कर रहे हो। कहा भी जाता है अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म। तुमको अहिंसक बनना है। न काम कटारी चलानी है, न लड़ना-झगड़ना है। बाप कहते हैं मैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद आता हूँ। लाखों वर्ष की बात ही नहीं। बाप कहते हैं यज्ञ, तप, दान, पुण्य आदि करते तुम नीचे गिरते आये हो। ज्ञान से ही सद्गति होती है। मनुष्य तो कुम्भकरण की नींद में सोये हुए हैं, जो जगते ही नहीं इसलिए बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ, मेरा भी ड्रामा में पार्ट है। पार्ट बिगर मैं भी कुछ नहीं कर सकता हूँ। मैं भी ड्रामा के बन्धन में हूँ। पूरे टाइम पर आता हूँ। ड्रामा के प्लैन अनुसार मैं तुम बच्चों को वापिस ले जाता हूँ। अब कहता हूँ मनमनाभव। परन्तु इनका भी अर्थ कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं देह के सर्व सम्बन्ध छोड़ मामेकम याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। बच्चे मेहनत करते रहते हैं बाप को याद करने की। यह है ईश्वरीय विश्व विद्यालय, सारे विश्व को सद्गति देने वाला दूसरा कोई ईश्वरीय विश्व विद्यालय हो न सके। ईश्वर बाप खुद आकर सारे विश्व को चेंज कर देते हैं। हेल से हेविन बनाते हैं। जिस पर फिर तुम राज्य करते हो। शिव को बबुलनाथ भी कहते हैं क्योंकि वह आकर तुमको काम कटारी से छुड़ाए पावन बनाते हैं। भक्ति मार्ग में तो बहुत शो है, यहाँ तो शान्त में याद करना है। वह अनेक प्रकार के हठयोग आदि करते हैं। उनका तो निवृत्ति मार्ग ही अलग है। वह ब्रह्म को मानते हैं। ब्रह्म योगी तत्व योगी हैं। वह तो हो गया आत्माओं के रहने का स्थान, जिसको ब्रह्माण्ड कहा जाता है। वह फिर ब्रह्म को भगवान समझ लेते हैं। उसमें लीन हो जायेंगे। गोया आत्मा को मार्टल बना देते हैं। बाप कहते हैं मैं ही आकर सर्व की सद्गति करता हूँ। शिवबाबा ही सर्व की सद्गति करते, तो वह है हीरे जैसा। फिर तुमको गोल्डन एज में ले जाते हैं। तुम्हारा भी यह हीरे जैसा जन्म है फिर गोल्डन एज में आते हो। यह नॉलेज तुमको बाप ही आकर पढ़ाते हैं जिससे तुम देवता बनते हो। फिर यह नॉलेज प्राय: लोप हो जाती है। इन लक्ष्मी-नारायण में भी रचता और रचना की नॉलेज नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. इस पुरानी दुनिया मे रहते डबल अहिंसक बन योगबल से अपनी नई दुनिया स्थापन करनी है। अपना जीवन हीरे जैसा बनाना है।

2. बाप जो सुनाते हैं उस पर विचार सागर मंथन कर दूसरों को सुनाना है। सदा नशा रहे कि यह पढ़ाई पूरी होगी तो हम कृष्णपुरी में जायेंगे।

वरदान:- व्यर्थ को भी शुभ भाव और श्रेष्ठ भावना द्वारा परिवर्तन करने वाले सच्चे मरजीवा भव
बापदादा की श्रीमत है बच्चे व्यर्थ बातें न सुनो, न सुनाओ और न सोचो। सदा शुभ भावना से सोचो, शुभ बोल बोलो। व्यर्थ को भी शुभ भाव से सुनो। शुभ चिंतक बन बोल के भाव को परिवर्तन कर दो। सदा भाव और भावना श्रेष्ठ रखो, स्वयं को परिवर्तन करो न कि अन्य के परिवर्तन का सोचो। स्वयं का परिवर्तन ही अन्य का परिवर्तन है, इसमें पहले मैं – इस मरजीवा बनने में ही मजा है। इसी को ही महाबली कहा जाता है। इसमें खुशी से मरो – यह मरना ही जीना है, यही सच्चा जीयदान है।
स्लोगन:- संकल्पों की एकाग्रता श्रेष्ठ परिवर्तन में फास्ट गति ले आती है।

TODAY MURLI 5 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 4 August 2019:- Click Here

05/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, I, your bodiless Father, am teaching you bodily beings in order to make you bodiless. This is something new which only you children understand.
Question: Why does Baba repeatedly need to explain the same things to you children?
Answer: It is because you children repeatedly forget. Some children say: Baba explains the same things over and over again. Baba says: Children, I definitely have to say the same things because you forget. The storms of Maya distress you. If I did not caution you every day, you would be defeated by the storms of Maya. You have not yet become satopradhan. When you do become that, Baba will stop speaking knowledge to you.

Om shanti. This is called a unique spiritual study. Even in the new world of the golden age, it will be bodily beings who teach one another. Everyone teaches knowledge. It is taught here too. All of those bodily beings teach one another. You would never have heard that it is the bodiless Father or the spiritual Father who is teaching. Even in the scriptures they have written, “God Krishna speaks”. He too is a bodily being. On hearing this new thing, people become confused. You too understand, numberwise, according to the effort you make, that the spiritual Father is teaching us spirits. This is something new. It is only at this confluence age that the Father Himself comes and tells you: I teach you through this one. That One is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Peace and the Father of all souls. This is something to be understood. There is nothing to see. The soul is the main thing and it is imperishable whereas the body is perishable. That imperishable soul sits here and teaches you. Although you see a corporeal body in front of you, you know that it is not the bodily being who is giving you knowledge; it is the bodiless Father who is giving you knowledge. How does He give that? You understand this too. People understand this with great difficulty. You have to beat your heads so much to enable them to have this faith. Those people say that the incorporeal One has no name, form, time or place. That Father Himself sits here and teaches you. He says: I am the Father of all souls. You cannot see Him. You understand that He is bodiless. He is the Ocean of Knowledge, Bliss and Love. How would He teach you? The Father Himself explains how He comes and whose support He takes. I do not take birth through a womb. I never become a human being or a deity. Even deities adopt bodies. I always remain bodiless. I alone have the part in the drama of never taking rebirth. So, this is something to be understood. I am not visible. Those people think that it is God Krishna who speaks. Look at the type of chariot that they have created on the path of devotion. The Father says: Children, you are not confused, are you? If you don’t understand something, come and understand it from the Father. In fact, the Father continues to explain everything to you without your asking Him. You don’t need to ask anything. I only incarnate at this most auspicious confluence age. My birth is wonderful. You children also find it a wonder. He enables you to pass such an important examination. He is teaching you to make you into the greatest masters of the world. This is something wonderful. O souls, I come to serve you every 5000 years. I am teaching you souls. I come at the confluence age of every cycle in order to serve you. For half the cycle, you have been calling out: O Baba, o Purifier, come! Krishna is not called the Purifier. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Purifier. So, Baba has to come here to purify the impure ones. This is why it is said: The Immortal Image of the true Baba, the Immortal Image of the true Teacher and the Immortal Image of the true Satguru. Sikhs have very good slogans. However, they don’t know when the Satguru, the Immortal Image, comes. It is remembered that it didn’t take God long to change human beings into deities. When does He come to change human beings into deities? He alone is the One who grants salvation to everyone. You should have this firm faith. What does He come and say? He simply says: Manmanabhav! He also explains the meaning of that. No one else explains its meaning. The Satguru, the Immortal Image, sits here and explains to you through this body: Consider yourself to be a soul. So, you should understand this. The Father has to come here to serve you children in order to make you into the masters of the world. He explains: O spiritual children, you were satopradhan and you then became tamopradhan. This world cycle continues to turn. There was the pure world of only those deities. Where did all of them go? No one knows this; they are confused. The Father comes and makes you sensible. Children, I only come once. Why should I come into the pure world? Death cannot come there. The Father is the Death of all Deaths. There is no need for Him to come into the golden age. Neither Death nor the Great Death comes there. He comes and takes all souls back. You go back in happiness. Yes Baba! We are ready to go back happily with You. This is why we called out to You: Take us from this impure world to the pure world viathe land of peace. Do not repeatedly forget these things. However, Maya, the enemy is standing here. She repeatedly makes you forget. I am the Master, the Almighty Authority, but Maya too is almighty. She rules over you for half the cycle and makes you forget. This is why the Father has to explain to you every day. If Baba were not to caution you every day, Maya would cause a lot of damage. This is a play of the pure and the impure. The Father now says: Become pure in order to reform your behaviour. There is so much fighting because of the vice of lust. The Father says: Each of you has now received a third eye of knowledge and so only look at souls. Do not even look at anything with your physical eyes. All of us souls are brothers. How can we indulge in vice? We came bodiless and we have to become bodiless and return home. The soul came here satopradhan and has to become satopradhan and return to the sweet home. The main thing is purity. People say: It is fine that the same thing is explained every day. However, they should at least follow all the things that are explained to them. They are explained to you so that you can put them into practice, but hardly anyone follows them, and this is why Baba has to explain every day. You don’t say: Baba, we have understood very well what You explain to us every day and we will now become satopradhan from tamopradhan. You are now free! Do you say this? Therefore, Baba has to explain every day. There is just the one thing, but you don’t do that. You don’t even remember the Father. You say: Baba, I forget You repeatedly. The Father has to tell you repeatedly in order to remind you to have remembrance. This is what you have to explain to one another: Consider yourself to be a soul and remember the Supreme Soul and your sins will be cut away. There is no other way. This is what He says at the beginning and at the end. It is only by having remembrance that you can become satopradhan. You yourself write: Baba, the storms of Maya make me forget You. So, should the Father not caution you? Should He just leave you alone? The Father knows that you are numberwise according to your efforts. You cannot return until you become satopradhan. This also has a connection with the war. The war will begin when you become satopradhan, numberwise, according to your efforts. Knowledge is of just a second. You have found the unlimited Father, but only when you become pure will you receive unlimited happiness from Him. You have to make effort very well. Some don’t understand anything at all; they don’t even have the sense to remember the Father. They have never studied this study. Throughout the cycle no one has ever studied with the incorporeal Father. So, this is something new. The Father says: I come every 5000 years to make you satopradhan. Until you become satopradhan, you cannot attain that status. Just as students fail in other studies, students fail here too. They don’t understand at all what will happen by remembering Shiv Baba. He is the Father and so you would definitely receive the inheritance of heaven from Him. The Father only explains to you once and you become deities through that. You become deities and then everyone else will come here, numberwise, to play their parts. Not all of these things can sit in the intellects of the old mothers. So, the Father says: Consider yourselves to be souls and remember the Father. That is all. That Shiv Baba is the Father of all souls. Everyone has his or her own physical father. Shiv Baba is incorporeal. While remembering Him you will become pure, shed your body and reach the Father. The Father explains a lot, but not all of you understand to the same extent. Maya makes you forget. This is called a battle. The Father sits here and explains to you so well. He reminds you of so many things. Make a list of the main mistakes that have been made. One is of the Father being omnipresent. God speaks: I am not omnipresent. It is the five vices that are omnipresent. This is a very severe mistake. Krishna is not the God of the Gita. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, who is that. Put these mistakes right and you will become deities. However, no child has yet written to Baba saying that he explained to others that it is because of these mistakes that Bharat has become impure from pure. This too has to be told to them. How can God be omnipresent? God is One and He is the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Satguru. No bodily being can be called the Supreme FatherTeacher and Satguru. Krishna is the highest in the whole world. He comes when the world is satopradhan and then Rama comes when the world is sato. Then others come down, numberwise, at their own time. In the scriptures, they show that the throat of Shankar became blue on taking in everyone’s vices. However, even now, while explaining these things, your throats dry up. It is such a small matter, but Maya is so powerful! Each one of you can ask your heart: Have I become virtuous and satopradhan? The Father explains: You cannot reach your karmateet stage until destruction takes place, no matter how much you beat your heads. Sit and remember Shiv Baba the whole time. Do not even talk of anything else. That is all. Baba, I will definitely attain the karmateet stage before the war takes place. It is not possible in the drama for someone like that to emerge. Only one person will claim the first number. Even this one says: I have to beat my head so much. Maya comes even more powerfully. This Baba himself says: Shiv Baba is sitting right next to me, but, in spite of that, I am unable to remember Him; I forget Him. I understand that Shiv Baba is with me, but, even then, I have to remember Him in the same way as you do. It isn’t that because I am with Him, I become happy with just that; no. He tells me too: Remember Me constantly! You are with Me and you are powerful, but you will have even more storms. How else would you be able to explain to the children? All of these storms will pass through you. Even while sitting so close to Him, I am unable to reach the karmateet stage, so who else would become like that? This destination is very high. According to the drama, everyone continues to make effort. Let someone make that effort and show this: Baba, I will show you by becoming karmateet before you. That is not possible. This drama is predestined. You have to make a lot of effort. The main thing is your character. There is so much difference between the character of the deities and that of impure human beings. It is Shiv Baba who makes you viceless from vicious. So, you now have to make effort and remember the Father. Do not forget Him. The poor innocent mothers are under the influence of others, that is, they are under Ravan’s influence. So, what can they do? You are under the influence of God Rama. Those people are under the influence of Ravan. This war continues, but there isn’t a war between Rama and Ravan. The Father explains to you children in different ways every day: Sweetest children, continue to reform yourselves. Examine your chart every night: Did I have any devilish behaviour throughout the day? Flowers in a garden are numberwise. No two flowers can ever be the same. All souls have received their own parts. Every actor continues to play his or her own part. The Father comes and definitely carries out the task of establishment and only then does He return. He definitely comes every 5000 years and makes you into the masters of the world. He is the unlimited Father and so He would surely give you the inheritance of the new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Only see souls with your third eye of knowledge. Do not look at anything with your physical eyes. Practise becoming bodiless.
  2. Make your character divine by having remembrance of the Father. Ask your heart: To what extent have I become virtuous? Did I have any devilish behaviour at all during the day?
Blessing: May you be courageous so that instead of becoming disheartened in a crisis, you have a big heart.
When you face a physical illness, there are storms in the mind. When there is a financial crisis, a crisis in the family or in service, never become disheartened by that crisis. Become one with a big heart. When karmic accounts come, when there is any pain, do not dwell on it and become disheartened and thereby increase it, but have courage. Do not think, “Oh. What should I do now?” Do not lose courage. Be courageous and you will automatically receive the Father’s help.
Slogan: Close your eyes to anyone’s weaknesses and make your mind introverted.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 August 2019

To Read Murli 4 August 2019:- Click Here
05-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मैं विदेही बाप तुम देहधारियों को विदेही बनाने के लिए पढ़ाता हूँ, यह है नई बात जो बच्चे ही समझते हैं”
प्रश्नः- बाबा को एक ही बात बार-बार समझाने की आवश्यकता क्यों पड़ती है?
उत्तर:- क्योंकि बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। कोई-कोई बच्चे कहते हैं – बाबा तो वही बात बार-बार समझाते हैं। बाबा कहते – बच्चे, मुझे जरूर वही बात सुनानी पड़े क्योंकि तुम भूल जाते हो। तुम्हें माया के तूफान हैरान करते हैं, अगर मैं रोज़ खबरदार न करूँ तो तुम माया के तूफानों से हार खा लेंगे। अभी तक तुम सतोप्रधान कहाँ बने हो? जब बन जायेंगे तब सुनाना बंद कर देंगे।

ओम् शान्ति। इसको विचित्र रूहानी पढ़ाई भी कहा जाता है। नई दुनिया सतयुग में भी देहधारी ही एक-दो को पढ़ाते हैं। नॉलेज तो सब पढ़ाते हैं। यहाँ भी पढ़ाते हैं। वह सब देहधारी एक-दो को पढ़ाते हैं, ऐसे कभी नहीं होगा कि विदेही बाप या रूहानी बाप पढ़ाते हों। शास्त्रों में भी कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है। वह भी जिस्मानी हो गया। यह नई बात सुनकर मूँझ जाते हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते हैं कि रूहानी बाप हम रूहों को पढ़ाते हैं। यह है नई बात। सिर्फ इस संगम पर ही बाप खुद आकर कहते हैं, इस द्वारा मैं तुमको पढ़ाता हूँ। ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर, सब आत्माओं का बाप भी वही है। यह समझ की बात है ना। देखने में तो कुछ नहीं आता। आत्मा ही है मुख्य और वह अविनाशी है। शरीर तो विनाशी है। अभी वह अविनाशी आत्मा बैठ पढ़ाती है। भल तुम सामने देखते हो यह तो साकार में शरीर बैठा है परन्तु यह तुम जानते हो, यह ज्ञान देहधारी नहीं देते हैं। ज्ञान देने वाला विदेही बाप है। कैसे देते हैं? वह भी तुम समझते हो। मनुष्य तो बड़ा मुश्किल समझते हैं। कितना तुमको माथा मारना पड़ता है – यह निश्चय कराने के लिए। वह तो कह देते निराकार का कोई नाम, रूप, देश, काल ही नहीं है। वह बाप खुद बैठ पढ़ाते हैं। कहते हैं मैं सब आत्माओं का बाप हूँ, जिसको तुम देख नहीं सकते हो। समझते हो वह विदेही है। ज्ञान, आनन्द, प्रेम का सागर है। वह कैसे पढ़ायेंगे। बाप खुद समझाते हैं – मैं कैसे आता हूँ, किसका आधार लेता हूँ? मैं कोई गर्भ से जन्म नहीं लेता हूँ। मैं कभी मनुष्य वा देवता नहीं बनता हूँ। देवता भी शरीर लेते हैं। मैं तो सदैव अशरीरी ही रहता हूँ। मेरा ही ड्रामा में यह पार्ट है, जो मैं कभी पुनर्जन्म में नहीं आता हूँ। तो यह समझ की बात है ना। देखने में तो आता ही नहीं। वह तो समझते हैं कृष्ण भगवानुवाच। भक्ति मार्ग में रथ भी कैसे बैठ बनाया है। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम मूँझते तो नहीं हो? अगर कुछ नहीं समझते हो तो बाप से आकर समझो। यूँ तो बिगर पूछे भी बाप सब कुछ समझाते रहते हैं। तुमको कुछ भी पूछने की दरकार नहीं है। मैं इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही अवतार लेता हूँ। मेरा जन्म भी वन्डरफुल है। तुम बच्चों को भी वन्डर लगता है, कितना बड़े ते बड़ा इम्तहान पास कराते हैं। बहुत बड़े ते बड़ा विश्व का मालिक बनाने के लिए पढ़ाते हैं। वन्डरफुल बात है ना। हे आत्माओं, हर 5 हज़ार वर्ष बाद मैं तुम्हारी सर्विस में आता हूँ। आत्माओं को पढ़ाते हैं ना। कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे तुम्हारी सेवा में आता हूँ। आधाकल्प तुम पुकारते आये हो – हे बाबा, हे पतित-पावन आओ। कृष्ण को कोई पतित-पावन नहीं कहते हैं। पतित-पावन परमपिता परमात्मा को ही कहते हैं। तो बाबा को भी आना पड़ेगा पतितों को पावन बनाने, इसलिए कहा जाता है – अकाल मूर्त – सत बाबा, अकाल मूर्त – सत टीचर, अकालमूर्त – सतगुरू। सिक्ख लोगों के भी बहुत अच्छे स्लोगन हैं। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं है कि सतगुरू अकाल मूर्त आते कब हैं। यह भी गायन है – मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार……। कब आकर मनुष्य को देवता बनाते हैं? वही सर्व की सद्गति करने वाला है, यह तो पक्का निश्चय होना चाहिए। क्या आकर कहते हैं? सिर्फ कहते हैं मनमनाभव। उसका अर्थ भी समझाते हैं और कोई भी अर्थ नहीं समझाते। तुमको सतगुरू अकाल मूर्त बैठ समझाते हैं इस देह द्वारा कि अपने को आत्मा समझो, तो यह समझना चाहिए। विश्व का मालिक बनाने के लिए बाप को आना पड़ता है – तुम बच्चों की सेवा में। समझाते हैं – हे रूहानी बच्चों, तुम सतोप्रधान थे, फिर तमोप्रधान बनें। यह सृष्टि का चक्र फिरता है ना। पावन दुनिया इन देवताओं की ही थी। वह सब कहाँ गये? यह किसको भी पता नहीं। मूँझे हुए हैं। बाप आकर तुमको समझदार बनाते हैं। बच्चे, मैं एक ही बार आता हूँ, पावन दुनिया में मैं आऊं ही क्यों! वहाँ तो काल आ नहीं सकता। बाप तो कालों का काल है। सतयुग में आने की दरकार ही नहीं। वहाँ काल भी नहीं आता तो महाकाल भी नहीं आता। यह आकर सब आत्माओं को ले जाते हैं। खुशी से चलते हो ना! हाँ बाबा, हम खुशी से चलने के लिए तैयार हैं। तब तो आपको बुलाया था कि इस पतित दुनिया से पावन दुनिया में ले चलो वाया शान्तिधाम। यह बातें घड़ी-घड़ी भूल न जाओ। परन्तु माया दुश्मन खड़ी है, घड़ी-घड़ी भुला देती है। मैं मास्टर सर्वशक्तिमान् हूँ, तो माया भी शक्तिमान है। वह भी आधाकल्प तुम पर राज्य करती है, भुला देती है इसलिए रोज़-रोज़ बाप को समझाना पड़ता है, रोज सुज़ाग न करे तो माया बहुत नुकसान कर दे। खेल है पवित्र और अपवित्र का। अब बाप कहते हैं अपनी चलन सुधारने के लिए पवित्र बनो। काम विकार के लिए कितने झगड़े होते हैं।

बाप कहते हैं अभी तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो आत्मा को ही देखो। इन जिस्मानी नेत्रों से देखो ही नहीं। हम सब आत्मायें भाई-भाई हैं। विकार कैसे करें। हम अशरीरी आये थे, फिर अशरीरी बनकर जाना है। आत्मा सतोप्रधान आई थी, सतोप्रधान बनकर जाना है स्वीट होम। मुख्य है ही पवित्रता की बात। मनुष्य कहते हैं रोज़ वही बात समझाते हैं, यह तो ठीक है। परन्तु जो समझाया जाता है, उस पर चलें भी ना। करने के लिए समझाया जाता है। परन्तु कोई चलते थोड़ेही है तो जरूर रोज़ रोज़ समझाना पड़े। ऐसे थोड़ेही कहते हैं – बाबा आप जो रोज़ समझाते हो वह हमने अच्छी रीति समझ लिया है, अब हम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। आप छूटे। ऐसे कहते हैं क्या? इसलिए बाबा को रोज़ समझाना पड़ता है। बात तो एक ही है। परन्तु करते नहीं हैं ना। बाप को याद ही नहीं करते हैं। कहते हैं – बाबा, घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप को घड़ी-घड़ी कहना पड़ता है याद दिलाने लिए। तुम भी एक-दो को यही समझाओ – अपने को आत्मा समझ परमात्मा को याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायें, और कोई उपाय नहीं। शुरू और अन्त में यही बात कहते हैं। याद से ही सतोप्रधान बनना है। खुद ही लिखते हैं – बाबा, माया के तूफान भुला देते हैं। तो क्या बाप सावधान न करे, छोड़ दे? बाप जानते हैं नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं। जब तक सतोप्रधान नहीं बने हैं, जा नहीं सकते हैं। लड़ाई का भी कनेक्शन है ना। लड़ाई लगेगी ही तब, जब तुम नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार सतोप्रधान बनेंगे। ज्ञान तो एक सेकण्ड का है। बेहद के बाप को पाया, अब उनसे बेहद का सुख तब मिलेगा जब पवित्र बनेंगे। पुरूषार्थ अच्छी रीति करना है। कई तो कुछ भी समझते नहीं हैं। बाप को याद करने का अक्ल भी नहीं आता है। कभी यह पढ़ाई तो पढ़ी नहीं है। सारे चक्र में निराकार बाप से कोई पढ़ा नहीं है। तो यह नई बात है ना। बाप कहते हैं मैं तो हर 5 हज़ार वर्ष बाद आता हूँ – तुमको सतोप्रधान बनाने। जब तक सतोप्रधान नहीं बने हो तब तक यह पद पा नहीं सकेंगे। जैसे और पढ़ाई में फेल होते हैं वैसे इसमें भी फेल होते हैं। शिवबाबा को याद करने से क्या होगा, कुछ नहीं समझते। बाप है तो जरूर बाप से स्वर्ग का वर्सा मिलना है। बाप एक ही बार समझाते हैं, जिससे तुम देवता बनते हो। तुम देवता बनेंगे फिर नम्बरवार सब आयेंगे पार्ट बजाने। इतनी सब बातें बुढ़ियों आदि की बुद्धि में बैठ न सकें। तो बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बस, वही शिवबाबा सब आत्माओं का बाप है। शरीर का बाप तो हर एक का अपना-अपना है। शिवबाबा तो है निराकार, उनको याद करते-करते पवित्र बन शरीर छोड़ फिर बाप के पास जाकर पहुँचना है। बाप समझाते तो बहुत हैं परन्तु सब एकरस नहीं समझते हैं। माया भुला देती है। इनको युद्ध कहा जाता है। बाप कितना अच्छी रीति बैठ समझाते हैं। कितनी बातों की स्मृति देते हैं। मुख्य जो भूलें हुई हैं उनकी लिस्ट बनाओ। एक बाप सर्वव्यापी की। भगवानुवाच – मैं सर्वव्यापी नहीं हूँ। सर्वव्यापी तो 5 विकार हैं, यह बड़ी भारी भूल है। गीता का भगवान् कृष्ण नहीं, परमपिता परमात्मा शिव है। इन भूलों को सुधारो तो देवता बन जायेंगे। परन्तु ऐसे कभी कोई बच्चे ने लिखा नहीं है कि ऐसे हमने समझाया कि इन भूलों के कारण ही भारत पावन से पतित बना है। वह भी बताना पड़े। भगवान सर्वव्यापी हो कैसे सकता। भगवान तो एक है जो सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर, सुप्रीम सतगुरू है। कोई भी देहधारी को सुप्रीम फादर, टीचर, सतगुरू कह नहीं सकते। कृष्ण तो सारी सृष्टि में सबसे ऊंचा है। जब सृष्टि सतोप्रधान होती है, तब वह आते हैं फिर सतो में राम, फिर नम्बरवार अपने समय पर ही आयेंगे। शास्त्रों में दिखाते हैं। सबके विकार ले ले कर गला ही काला हो गया। लेकिन अभी समझाते-समझाते गला ही सूख जाता है। बात कितनी थोड़ी है परन्तु माया कितनी जबरदस्त है। हर एक अपने दिल से पूछे – हम ऐसे गुणवान सतोप्रधान बने हैं?

बाप समझाते हैं जब तक विनाश नहीं हुआ है तब तक तुम कर्मातीत अवस्था को पा नहीं सकेंगे। भल कितना भी माथा मारो। सारा समय शिवबाबा को बैठ याद करो और कोई बात ही नहीं करो। बस बाबा लड़ाई से पहले मैं कर्मातीत अवस्था को पाकर दिखाऊंगा, ऐसा कोई निकले – ऐसा ड्रामा में हो नहीं सकता। पहले नम्बर में तो एक ही जाना है। यह भी कहते हैं हमको कितना माथा मारना पड़ता है। माया तो और ही रूसतम बनकर आती है। बाबा खुद कहते हैं मेरे तो बाजू में एकदम शिवबाबा बैठा है, तो भी मैं याद नहीं कर सकता हूँ, भूल जाता हूँ। समझता हूँ मेरे साथ बाबा है। फिर मुझे भी तो याद करना पड़ता है, जैसे तुम करते हो। ऐसे नहीं, मैं तो साथ हूँ, इसमें ही खुश हो जाना है। नहीं, मुझे भी कहते हैं – निरन्तर याद करो। साथ वाले तुम रूसतम हो, तुमको तो और ही जास्ती तूफान आयेंगे। नहीं तो बच्चों को कैसे समझा सकेंगे। यह सब तूफान तो तुमसे पास होंगे। मैं उनके इतने नज़दीक बैठे हुए भी कर्मातीत अवस्था को पा नहीं सकता हूँ तो फिर दूसरा कौन बनेगा। यह मंज़िल बहुत ऊंची है। ड्रामा अनुसार सब पुरूषार्थ करते रहते हैं। भल कोई ऐसी कोशिश करके दिखाये – बाबा, हम आपसे पहले कर्मातीत अवस्था को पाकर यह बनकर दिखाते हैं। हो नहीं सकता। यह ड्रामा बना बनाया है।

तुमको पुरूषार्थ बहुत करना है। मुख्य सारी बात है कैरेक्टर्स की। देवताओं के कैरेक्टर्स और पतित मनुष्यों के कैरेक्टर्स में कितना फ़र्क है। तुमको विकारी से निर्विकारी बनाने वाला शिवबाबा है। तो अब पुरूषार्थ कर बाप को याद करना पड़े। भूलो नहीं। बाकी अबलायें बिचारी परवश हैं अर्थात् रावण के वश हैं तो क्या कर सकती हैं। तुम हो राम ईश्वर के वश। वह हैं रावण के वश। तो युद्ध चलती है। बाकी राम और रावण की युद्ध नहीं होती है। बाप तुम बच्चों को भिन्न-भिन्न प्रकार से रोज़ समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, अपने को सुधारते जाओ। रोज़ रात को पोतामेल देखो, सारे दिन में कोई आसुरी चलन तो नहीं चली? बगीचे में फूल नम्बरवार तो होते ही हैं। दो एक जैसे कभी हो नहीं सकते। सभी आत्माओं को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। हर एक एक्टर्स पार्ट बजाते रहते हैं। बाप भी आकर स्थापना का कार्य करके ही छोड़ते हैं। हर 5 हज़ार वर्ष के बाद आकर विश्व का मालिक बना ही देते हैं। बेहद का बाप है ना तो जरूर नई दुनिया का वर्सा देंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान के तीसरे नेत्र से आत्मा को ही देखना है। जिस्मानी नेत्रों से देखना ही नहीं है। अशरीरी बनने का अभ्यास करना है।

2) बाप की याद से अपने दैवी कैरेक्टर बनाने हैं। अपने दिल से पूछना है कि हम कहाँ तक गुणवान बने हैं? हमने सारे दिन में आसुरी चलन तो नहीं चली?

वरदान:- हलचल में दिलशिकस्त होने के बजाए बड़ी दिल रखने वाले हिम्मतवान भव
कभी भी कोई शारीरिक बीमारी हो, मन का तूफान हो, धन में या प्रवृत्ति में हलचल हो, सेवा में हलचल हो – उस हलचल में दिलशिकस्त नहीं बनो। बड़ी दिल वाले बनो। जब हिसाब-किताब आ गया, दर्द आ गया तो उसे सोच-सोचकर, दिलशिकस्त बन बढ़ाओ नहीं, हिम्मत वाले बनो, ऐसे नहीं सोचो हाय क्या करूं…हिम्मत नहीं हारो। हिम्मतवान बनो तो बाप की मदद स्वत: मिलेगी।
स्लोगन:- किसी की कमजोरी को देखने की आंखें बन्द कर मन को अन्तर्मुखी बनाओ।

TODAY MURLI 5 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 August 2018 :- Click Here

05/08/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/12/83

The basis of attaining an elevated status is the murli.

Today, the Murlidhar Father is looking at His children who love the murli (flute), to see how much they love the Murlidhar Father and how much they love the murli. You are so intoxicated by the murli. You forget all consciousness of your body as you listen to the bodiless Father. You don’t have the slightest consciousness of bodily beings. You become so intoxicated in this way and dance in happiness. You consider yourselves to be so multi-million times fortunate to be personally in front of the Father, the Bestower of Fortune that you stay in spiritual intoxication. As you become intoxicated with this spiritual intoxication and the intoxication of the murli of the Murlidhar, you experience yourselves to be flying beyond your body and this earth. With the music of the murli, that is, with the secrets and the music of the murli, you continue to have many experiences with the Father, the Murlidhar. Sometimes, you go to the incorporeal world, sometimes, the subtle region and sometimes your own kingdom. Sometimes, you become a light-and-might-house and give rays of happiness and peace to the souls of this peaceless and unhappy world. You travel through the three worlds every day. With whom? With the Murlidhar Father. Hearing the murli you swing in swings of supersensuous joy. As soon as you receive the medicine of imperishable blessings from the music of the Murlidhar’s murli, you become healthy in body and mind. You become intoxicated and an emperor who is free from worry. You become the emperor of the land free from sorrow with a right to self-sovereignty.Baba was seeing the children who love to listen to the murli in the right way like this. From the same murli, some become kings, and others become subjects because success is achieved by applying yourself with the right method; the more you listen to the murli in the right way, the more you become an embodiment of success.

First are those who listen to the murli in the right way, that is, those who merge it in themselves. Second are those who listen to the murli as a discipline and merge some of the murli in themselves and speak about some of the murli. Don’t even ask about the third type! Those who listen and merge the murli in themselves in an accurate way become the form of it. Their every action is a form of the murli. Ask yourself what number you are in – the first number or the second number? To have regard for the Murlidhar Father means to have regard for every version of the murli. Each version is the basis of earning an income for 2500 years. It is the basis of an income of multi-millions. In this respect, if you miss one blessing, you miss out on an income of multi-millions. One blessing makes you into a mine of treasures. Those who listen to every word of the murli in the right way and understand the philosophy of the account of success attained through it, attain an elevated status. Just as the philosophy of karma is deep, in the same way, the philosophy of listening to and merging the murli in yourself in the right way is extremely elevated. The murli is the breath of Brahmin life. If there is no breath, there is no life. You souls have this experience, do you not? Check yourself every day as to whether you listened to the murli giving it that importance and in the right way. This discipline at amrit vela easily and automatically makes you into an embodiment of success in your every action throughout the day. Do you understand?

You new ones have come, have you not? Therefore, Baba is telling all of you who have come last the way to go fast. This way you will go fast. You can gallopthis way, and make up for any missed time. BapDada tells you the different methods so that no child has any complaints, such as: Why did we come late? Or: Why were we called late? You can still move forward, however. Move forward in an elevated way and claim a high number. There won’t be any complaints left, will there? Baba is showing you the refined way. You have come at the time when everything is ready-made. You have come when it is the time to eat the butter that has been churned. You are already free from that type of hard work. Now, simply eat it and digest it. It is easy, is it not? Achcha.

To those who are complete and perfect in doing everything in the right way and who thereby attain all success, to those who forget the consciousness of their bodies on hearing the Murlidhar’s murli, to those who swing in the swing of happiness, to the intoxicated yogis who remain intoxicated in their spiritual intoxication, to those who have regard for the Murlidhar and the murli, to such master murlidhars, to the children who become the form of the murli and the Murlidhar, to all BapDada’s corporeal and angelic children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

1) You are the elevated souls who constantly stay in remembrance of the One in a constant and stable stage, are you not? Are you always constant ‘ek-ras’ (taste of One) or do other tastes pull you towards themselves? Other tastes don’t pull you towards themselves, do they? All of you have just the One. Everything is merged in the One. Since you have only the One and there isn’t anyone else, where else would you go? You don’t have any maternal or paternal uncles, do you? What promise have all of you made? This is the promise you have made, is it not, that You are everything? Have the kumaris made a firm promise? You made a firm promise and you were garlanded with a wedding garland. You made a promise and you found the Husband. You found the Husband and also the home. Parents are concerned that their kumaris find good husbands and good homes. You have found the Husband whose praise is sung by the whole world. You have also found the home where nothing is lacking. So, have you put on the wedding garland firmly? Such kumaris are said to be sensible. Kumaris are sensible anyway. BapDada is pleased to see you kumaris because you have been saved. You would be happy if someone was saved from falling, would you not? The mothers had already fallen down, and so for them, it would be said that those who had fallen were saved, whereas for you kumaris, it would be said that you have been saved from falling. Therefore, you are so lucky! Mothers have their own luck and kumaris have their own luck. You mothers are also lucky because you are the cows of Gopal (Cowherd. One who looks after cows).

  • Are you constantly conquerors of Maya? Those who are conquerors of Maya would definitely have the intoxication of being world benefactors. Do you have such intoxication? “Unlimited service” means service of the world. Always have the awareness that you are the children of the Master of the world. You have the awareness of what you have become and what you have found; that is all. Simply constantly continue to make progress in this happiness. BapDada is pleased to see those who are making progress.

Remain constantly intoxicated in remembrance of the Father. What does Godly intoxication make you? From being residents of this earth (farsh), you become residents of the sky (arsh). So, do you constantly reside in the sky or do you sometimes reside on the earth? Since you have become the children of the highest-on-high Father, how could you stay down below? The earth is down below, is it not, whereas the sky is high, so how could you come down? Never allow the foot of your intellect to touch the ground: just, up above! This is known as being a great child of the highest-on-high Father. Let there be this intoxication. Remain constantly unshakeable and immovable and full of all treasures. If you fluctuate even a little because of Maya you won’t be able to experience all the treasures. You have received so many treasures from the Father. So, in order to keep all of those treasures with you for all time, remain constantly unshakeable and immovable. By remaining unshakeable you will constantly experience happiness. There is also the happiness of temporary perishable wealth. Even when a politician wins a temporary seat and acquires name and fame, he experiences so much happiness. This is lasting happiness. Only those who remain unshakeable and immovable will be able to experience this happiness.

All Brahmins have received self-sovereignty. Previously, you were slaves and used to sing: “I am Your slave! I am Your slave!” You have now become self-sovereigns. From slaves, you have become kings. There is such a big difference; there is the difference of day and night. Remember the Father and change from a slave to a king. Such a kingdom cannot be attained throughout the whole cycle. With this self-sovereignty you receive the kingdom of the world. Therefore, constantly maintain the intoxication that you have a right to self-sovereignty and your physical organs will then automatically follow the elevated path. Always maintain the happiness that you have attained whatever you wanted to attain. Look what you have become from what you were! Look where you were and where you have reached!

Questions and Answers from Avyakt BapDada’s elevated versions :

Question: What is the final aim of making effort for which you have to pay special attention?

Answer: To be an avyakt angel is the final aim of making effort. By keeping this aim in front of you, you will experience your body of light to be in an orb of light. Just as a physical body is in an orb of the five elements, in the same way, an avyakt one is in an orb of light. It is the form of light and all around there is only light. I, the soul, am a form of light – you have this aim, but in the subtle form, too, you are in an orb of light.

Question: While performing every action, what awareness should you particularly increase so that you easily develop the incorporeal stage?

Answer: While performing every deed have the awareness, “I, an instrument angel, am setting foot on this earth to carry out this task, but I am a resident of the subtle region. I have come on earth from my region for this task. As soon as I finish my task, I will go back to my region. With this awareness you will easily develop the incorporeal stage.

Question: As well as having the points of intoxication of the corporeal form, by keeping yourself in which experience will you become an image that grants visions?

Answer: When you remain aware that you are an elevated soul, a Brahmin and a Shakti, you experience intoxication and happiness. However, when you experience yourself to be in the avyakt form, in an orb of light, you will become an image that grants visions, because visions cannot be given without light. It is only with your form of light that people will have visions of your divine form.

Question: According to the present time, what should your form be? What part has now finished?

Answer: According to the present time, all of you need to have the volcanic form. Let no ordinary form or ordinary words be visible or heard. Let them have this experience: What words from the ether is this goddess going to say to me? Your part of being a gopi has now finished. When you are in your Shakti form, everyone will experience you to be an incarnation – that you are not an ordinary bodily being, but an incarnation that has incarnated. You just speak elevated versions and then disappear. Let this be the present stage and aim of your efforts.

Question: What is the service of the main serviceable instruments, the invaluable jewels who are going to claim the throne of the kingdom?

Answer: They will tour around everywhere and continue to give light everywhere like lighthouses. One will give light to many. They will continue to go beyond all physical activities. They will listen through signals, give directions and then go back to the subtle region. Now, the responsibilities and expansion of servicewill increase everywhere even more. All the different types of service that are happening will increase even more.

Question: Who can become a ruler of the globe, an emperor? What indicates this?

Answer: Those who hold the discus now (who tour around on service) will become emperors, rulers of the globe. Those who have the circle of light and also the circle to spread light in service will be called the rulers, those who hold the discus. Only those who hold the discus can become rulers of the globe. Let your form of light and your crown of light become so common that, when you walk, everyone can see that you are wearing a crown of light.

Question: From which practice will the karmic accounts of the body reduce and the body receive the nourishment of sleep?

Answer: When you practise being stable in the avyakt form of light and going beyond the body, then, with two to four minutes of the bodiless stage, the body will receive the nourishment of sleep. The body will be the same old body and the karmic accounts will also be the same old ones. However, by making the awareness of the form of light strong, you will become light in terms of reducing the karmic accounts of your body. For this, especially at amrit vela, practise: I am bodiless and a resident of the supreme abode. That is: I have incarnated in my avyakt form.

Question: What is the easy way to become a conqueror of Maya?

Answer: In order to become a conqueror of Maya, be angry with your defects. When you feel angry, don’t get angry with one another, but get angry with your defects and weaknesses and you will then easily become a conqueror of Maya.

Question: Why is BapDada especially pleased when He sees those from the villages?

Answer: Because those from the villages are very innocent. Even the Father is called the Innocent Lord. Just as the Father is the Innocent Lord, so too, those from the villages are innocent. Therefore, always have the happiness that you are especially loved by the Innocent Lord. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower of peace who becomes an instrument with the power of silence to establish the new world.
In order to accumulate the power of silence, go beyond your body, that is, become bodiless. This power of silence is a very great power with which the new world will be established. Those who stabilise themselves in silence, beyond sound, can carry out the task of establishment. Therefore, become bestowers of peace, that is, become embodiments of peace and give peaceless souls rays of peace. Especially increase the power of silence. This is the greatest donation of all. This is the most lovely and powerful thing.
Slogan: To have good wishes for every soul and all of matter is to be a world benefactor.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 August 2018

To Read Murli 4 August 2018 :- Click Here
05-08-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-12-83 मधुबन

श्रेष्ठ पद की प्राप्ति का आधार – “मुरली”

आज मुरलीधर बाप अपने मुरली के स्नेही बच्चों को देख रहे हैं कि कितना मुरलीधर बाप से स्नेह है और कितना मुरली से स्नेह है। मुरली के पीछे कैसे मस्त हो जाते हैं। अपनी देह की सुध-बुध भूल देही बन विदेही बाप से सुनते हैं। जरा भी देहधारी स्मृति की सुध-बुध नहीं। इस विधि से मस्त हो कैसे खुशी में नाचते हैं। स्व्यं को भाग्य-विधाता बाप के सम्मुख पदमापदम भाग्यवान समझ रुहानी नशे में रहते हैं। जैसे-जैसे यह रुहानी नशा, मुरलीधर की मुरली का नशा चढ़ जाता है तो अपने को इस धरनी और देह से ऊपर उड़ता हुआ अनुभव करते हैं। मुरली की तान से अर्थात् मुरली के साज़ और राज़ से मुरलीधर बाप के साथ अनेक अनुभवों में चलते जाते। कभी मूलवतन, कभी सूक्ष्मवतन में चले जाते, कभी अपने राज्य में चले जाते। कभी लाइट हाउस, माइट हाउस बन इस दु:खी अशान्त संसार की आत्माओं को सुख-शान्ति की किरणें देते, रोज़ तीनों लोकों की सैर करते हैं। किसके साथ? मुरलीधर बाप के साथ। मुरली सुन-सुनकर अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते हैं। मुरलीधर की मुरली के साज़ से अविनाशी दुआ की दवा मिलते ही तन तन्दरुस्त, मन मनदुरुस्त हो जाता है। मस्ती में मस्त हो बेपरवाह बादशाह बन जाते हैं। बेगमपुर के बादशाह बन जाते हैं। स्वराज्य-अधिकारी बन जाते हैं। ऐसे विधि पूर्वक मुरली के स्नेही बच्चों को देख रहे थे। एक ही मुरली द्वारा कोई राजा, कोई प्रजा बन जाता है क्योंकि विधि द्वारा सिद्धि होती है, जितना जो विधिपूर्वक सुनते उतना ही सिद्धि स्वरुप बनते हैं।

एक हैं विधिपूर्वक सुनने वाले अर्थात् समाने वाले। दूसरे हैं नियम पूर्वक सुनने, कुछ समाने, कुछ वर्णन करने वाले। तीसरों की तो बात ही नहीं। यथार्थ विधिपूर्वक सुनने और समाने वाले स्वरुप बन जाते हैं। उन्हों का हर कर्म मुरली का स्वरुप है। अपने आप से पूछो – किस नम्बर में हैं? पहले वा दूसरे में? मुरलीधर बाप का रिगार्ड अर्थात् मुरली के एक-एक बोल का रिगार्ड। एक-एक वरशन (महावाक्य) 2500 वर्षो की कमाई का आधार है। पदमों की कमाई का आधार है। उसी हिसाब प्रमाण एक वरदान मिस हुआ तो पदमों की कमाई मिस हुई। एक वरदान खजानों की खान बना देता है। ऐसे मुरली के हर बोल को विधिपूर्वक सुनने और उससे प्राप्त हुई सिद्धि के हिसाब-किताब की गति को जानने वाले श्रेष्ठ गति को प्राप्त होते हैं। जैसे कर्मो की गति गहन है वैसे विधिपूर्वक मुरली सुनने समाने की गति भी अति श्रेष्ठ है। मुरली ही ब्राह्मण जीवन की साँस (श्वाँस) है। श्वाँस नहीं तो जीवन नहीं – ऐसी अनुभवी आत्माएं हो ना। अपने आपको रोज़ चेक करो कि आज इसी महत्व पूर्वक, विधि पूर्वक मुरली सुनी? अमृतवेले की यह विधि सारा दिन हर कर्म में सिद्धि स्वरुप स्वत: और सहज बनाती है। समझा।

नये-नये आये हो ना। तो लास्ट सो फास्ट जाने का तरीका सुना रहे हैं। इससे फास्ट चले जायेंगे। समय की दूरी को इसी विधि से गैलप कर सकते हो। साधन तो बापदादा सुनाते हैं जिससे किसी भी बच्चे का उल्हना रह न जाये। पीछे क्यों आये वा क्यों बुलाया… लेकिन आगे बढ़ सकते हो। आगे बढ़ो श्रेष्ठ विधि से श्रेष्ठ नम्बर लो। उल्हना तो नहीं रहेगा ना। रिफाइन रास्ता बता रहे हैं। बने बनाये पर आये हो। निकले हुए मक्खन को खाने के समय पर आये हो। एक मेहनत से तो पहले ही मुक्त हो। अभी सिर्फ खाओ और हज़म करो। सहज है ना। अच्छा!

ऐसे सर्व विधि सम्पन्न, सर्व सिद्धि को प्राप्त करने वाले, मुरलीधर की मुरली पर देह की सुध-बुध भूलने वाले, खुशियों के झूले में झूलने वाले, रुहानी नशे में मस्त योगी बन रहने वाले, मुरलीधर और मुरली का रिगार्ड रखने वाले, ऐसे मास्टर मुरलीधर, मुरली वा मुरलीधर स्वरुप बच्चों को बापदादा का साकारी और आकारी दोनों बच्चों को स्नेह सम्पन्न याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सदा एक बाप की याद में रहने वाली, एकरस स्थिति में स्थित रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो ना! सदैव एकरस आत्मा हो या और कोई भी रस अपनी तरफ खींच लेता है? कोई अन्य रस अपनी तरफ खींचता तो नहीं है ना? आप सबको तो है ही एक। एक में सब समाया हुआ है। जब है ही एक, और कोई है नहीं। तो जायेंगे कहाँ। कोई काका, मामा, चाचा तो नहीं है ना। आप सबने क्या वायदा किया? यही वायदा किया है ना कि सब कुछ आप ही हो। कुमारियों ने पक्का वायदा किया है? पक्का वायदा किया और वरमाला गले में पड़ी। वायदा किया और वर मिला। वर भी मिला और घर भी मिला। तो वर और घर मिल गया। कुमारियों के लिए मां-बाप को क्या सोचना पड़ता है। वर और घर अच्छा मिले। तुम्हें तो ऐसा वर मिल गया जिसकी महिमा जग करता है। घर भी ऐसा मिला है, जहाँ अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। तो पक्की वरमाला पहनी है? ऐसी कुमारियों को कहा जाता है समझदार। कुमारियां तो हैं ही समझदार। बापदादा को कुमारियों को देखकर खुशी होती है क्योंकि बच गयीं। कोई गिरने से बच जाए तो खुशी होगी ना। माताएं जो गिरी हुई थी उनको तो कहेंगे कि गिरे हुए को बचा लिया लेकिन कुमारियों के लिए कहेंगे गिरने से बच गई। तो आप कितनी लक्की हो। माताओं का अपना लक है, कुमारियों का अपना लक है। मातायें भी लकी हैं क्योंकि फिर भी गऊपाल की गऊएं हैं।

2. सदा मायाजीत हो? जो मायाजीत होंगे उनको विश्व कल्याणकारी का नशा जरूर होगा। ऐसा नशा रहता है? बेहद की सेवा अर्थात् विश्व की सेवा। हम बेहद के मालिक के बालक हैं, यह स्मृति सदा रहे। क्या बन गये, क्या मिल गया, यह स्मृति रहती है! बस, इसी खुशी में सदा आगे बढ़ते रहो। बढ़ने वालों को देख बापदादा हर्षित होते हैं।

सदा बाप के याद की मस्ती में मस्त रहो। ईश्वरीय मस्ती क्या बना देती है? एकदम फर्श से अर्श निवासी। तो सदा अर्श पर रहते हो या फर्श पर क्योंकि ऊंचे ते ऊंचे बाप के बच्चे बने, तो नीचे कैसे रहेंगे। फर्श तो नीचे होता है। अर्श है ऊंचा, तो नीचे कैसे आयेंगे। कभी भी बुद्धि रुपी पांव फर्श पर नहीं, ऊपर। इसको कहा जाता है ऊंचे ते ऊंचे बाप के ऊंचे बच्चे। यही नशा रहे। सदा अचल अडोल सर्व खजानों से सम्पन्न रहो। थोड़ा भी माया में डगमग हुए तो सर्व खजानों का अनुभव नहीं होगा। बाप द्वारा कितने खजाने मिले हुए हैं, उन खजानों को सदा कायम रखने का साधन है, सदा अचल अडोल रहो। अचल रहने से सदा ही खुशी की अनुभूति होती रहेगी। विनाशी धन की भी खुशी रहती है ना। विनाशी नेतापन की कुर्सी मिलती है, नाम-शान मिलता है तो भी कितनी खुशी होती है। यह तो अविनाशी खुशी है। यह खुशी उसे रहेगी जो अचल-अडोल होंगे।

सभी ब्राह्मणों को स्वराज्य प्राप्त हो गया है। पहले गुलाम थे, गाते थे मैं गुलाम, मैं गुलाम.. अब स्वराज्यधारी बन गये। गुलाम से राजा बन गये। कितना फर्क पड़ गया। रात दिन का अन्तर है ना। बाप को याद करना और गुलाम से राजा बनना। ऐसा राज्य सारे कल्प में नहीं प्राप्त हो सकता। इसी स्वराज्य से विश्व का राज्य मिलता है। तो अभी इसी नशे में सदा रहो हम स्वराज्य अधिकारी हैं, तो यह कर्मेन्द्रियां स्वत: ही श्रेष्ठ रास्ते पर चलेंगी। सदा इसी खुशी में रहो कि पाना था जो पा लिया.. क्या से क्या बन गये। कहाँ पड़े थे और कहाँ पहुँच गये।

अव्यक्त बापदादा के महावाक्यों से चुने हुए प्रश्न-उत्तर

प्रश्न:- पुरुषार्थ का अन्तिम लक्ष्य कौनसा है? जिसका विशेष अटेन्शन रखना है?

उत्तर:- अव्यक्त-फरिश्ता होकर रहना – यही पुरूषार्थ का अन्तिम लक्ष्य है। यह लक्ष्य सामने रखने से अनुभव करेंगे कि लाइट के कार्ब में मेरा यह लाइट का शरीर है। जैसे व्यक्त, पाँच तत्वों के कार्ब में है, ऐसे अव्यक्त, लाइट के कार्ब में है। लाइट का रुप तो है, लेकिन आसपास चारों ओर लाइट ही लाइट है। मैं आत्मा ज्योति रूप हूँ-यह तो लक्ष्य है ही। लेकिन मैं आकार में भी कार्ब में हूँ।

प्रश्न:- हर कार्य करते हुए किस स्मृति को विशेष बढ़ाओ तो निराकारी स्टेज सहज बन जायेगी?

उत्तर:- हर कार्य करते हुए स्मृति रहे कि मैं फरिश्ता निमित्त इस कार्य अर्थ पृथ्वी पर पाँव रख रहा हूँ, लेकिन मैं हूँ अव्यक्त देश का वासी, मैं इस कार्य-अर्थ पृथ्वी पर वतन से आया हूँ, कारोबार पूरी हुई, फिर वापस अपने वतन में। इस स्मृति से सहज ही निराकारी स्टेज बन जायेगी।

प्रश्न:- साकार स्वरूप के नशे की पाइंटस के साथ-साथ किस अनुभव में रहने से ही साक्षात्कार मूर्त बन सकेंगे?

उत्तर:- जैसे यह स्मृति में रहता है कि मैं श्रेष्ठ आत्मा हूँ, मैं ब्राह्मण हूँ, मैं शक्ति हूँ। इस स्मृति से नशे और खुशी का अनुभव होता है। लेकिन जब अव्यक्त स्वरुप में, लाइट के कार्ब में स्वयं को अनुभव करेंगे तब साक्षात्कार मूर्त बनेंगे क्योंकि साक्षात्कार लाइट के बिना नहीं होता है। तो आपके लाइट रूप के प्रभाव से ही उनको दैवी स्वरुप का साक्षात्कार होगा।

प्रश्न:- वर्तमान समय के प्रमाण आपका कौन सा स्वरूप चाहिए? अभी कौन सा पार्ट समाप्त हुआ?

उत्तर:- वर्तमान समय के प्रमाण आप सबका ज्वालामुखी स्वरूप चाहिए। साधारण स्वरूप, साधारण बोल नज़र न आयें, अनुभव करें कि यह देवी मेरे प्रति क्या आकाशवाणी करती है। अब आपका गोपी-पन का पार्ट समाप्त हुआ। जब आप शक्ति रूप में रहेंगे तो आप द्वारा सबको अनुभव होगा कि यह कोई अवतार हैं – यह कोई साधारण शरीरधारी नहीं हैं। अवतार प्रगट हुए हैं। महावाक्य बोले और प्राय:लोप। अभी की स्टेज व पुरुषार्थ का लक्ष्य यह होना चाहिए।

प्रश्न:- निमित्त बने हुए मुख्य सर्विसएबुल, राज्यभागय की गद्दी लेने वाले अनन्य रत्नों की सेवा क्या है?

उत्तर:- वे लाइट हाउस मिसल घूमते और चारों ओर लाइट देते रहेंगे। एक अनेकों को लाइट देंगे। स्थूल कारोबार से उपराम होते जायेंगे। इशारे में सुना, डायरेक्शन दिया और फिर अव्यक्त वतन में। अभी जिम्मेवारियाँ और सर्विस का विस्तार तो चारों ओर और बढ़ेगा। भिन्न-भिन्न प्रकार की जो सर्विस हो रही है, वह बढ़ेगी।

प्रश्न:- चक्रवर्ती महाराजा कौन बनते हैं, उनकी निशानियां सुनाओ।

उत्तर:- जो अभी चक्रधारी हैं वही चक्रवर्ती महाराजा बनेंगे। जिसमें लाइट का भी चक्र हो और सेवा में प्रकाश फैलाने वाला चक्र भी हो, तब ही कहेंगे – चक्रधारी। ऐसा चक्रधारी ही चक्रवर्ती बन सकता है। आपके लाइट का रुप और लाइट का क्राउन ऐसा कॉमन हो जाये जो चलते – फिरते सबको दिखाई दे कि यह लाइट के ताजधारी हैं।

प्रश्न:- किस अभ्यास से शरीर के हिसाब-किताब हल्के हो जायेंगे, शरीर को नींद की खुराक मिल जायेगी?

उत्तर:- अव्यक्त लाइट रूप में स्थित होने का, शरीर से परे होने का अभ्यास हो तो 2-4 मिनट की अशरीरी स्थिति से शरीर को नींद की खुराक मिल जायेगी। शरीर तो पुराने ही रहेंगे। हिसाब-किताब भी पुराना होगा ही। लेकिन लाइट-स्वरुप के स्मृति को मजबूत करने से हिसाब-किताब चुक्त करने में लाइट रुप हो जायेंगे, इसके लिए अमृतवेले विशेष यह अभ्यास करो कि मैं अशरीरी और परमधाम का निवासी हूँ, अथवा अव्यक्त रुप में अवतरित हुआ हूँ।

प्रश्न:- मायाजीत बनने का सहज साधन क्या है?

उत्तर:- मायाजीत बनने के लिए अपनी बुराईयों पर क्रोध करो। जब क्रोध आये तो आपस में नहीं करना, बुराईयों से क्रोध करो, अपनी कमजोरियों पर क्रोध करो तो मायाजीत सहज बन जायेंगे।

प्रश्न:- गांव वालों को देख बापदादा विशेष खुश होते हैं क्यों?

उत्तर:- क्योंकि गांव वाले बहुत भोले होते हैं। बाप को भी भोलानाथ कहते हैं। जैसे भोलानाथ बाप वैसे भोले गांव वाले तो सदा यह खुशी रहे कि हम विशेष भोलानाथ के प्यारे हैं। अच्छा।

वरदान:- साइलेन्स की शक्ति द्वारा नई सृष्टि की स्थापना के निमित्त बनने वाले मास्टर शान्ति देवा भव 
साइलेन्स की शक्ति जमा करने के लिए इस शरीर से परे अशरीरी हो जाओ। यह साइलेन्स की शक्ति बहुत महान शक्ति है, इससे नई सृष्टि की स्थापना होती है। तो जो आवाज से परे साइलेन्स रूप में स्थित होंगे वही स्थापना का कार्य कर सकेंगे इसलिए शान्ति देवा अर्थात् शान्त स्वरूप बन अशान्त आत्माओं को शान्ति की किरणें दो। विशेष शान्ति की शक्ति को बढ़ाओ। यही सबसे बड़े से बड़ा महादान है, यही सबसे प्रिय और शक्तिशाली वस्तु है।
स्लोगन:- हर आत्मा वा प्रकृति के प्रति शुभ भावना रखना ही विश्व कल्याणकारी बनना है।
Font Resize