daily murli 4 october

TODAY MURLI 4 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 October 2020

04/10/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
29/03/86

BapDada’s heart-to-heart conversation with double-foreign children.

Today, BapDada emerged all the double-foreign children from everywhere into the subtle region and saw the specialities of all the children. All of you children are special souls which is why you now belong to the Father, that is, you have become those with elevated fortune. All of you are special but, nevertheless, you would still be said to be numberwise. So, today, BapDada was especially seeing the double-foreign children. Whilst coming from different customs, systems and beliefs, you have come to accept in a short time one belief and to follow the directions of One. BapDada is especially seeing two specialities in the majority of you children. First is that you very quickly became bound by the relationship of love. The relationship of love has helped you very much in belonging to the Godly family and to the Father. So, first is the speciality of becoming loving and secondly, because of love, you easily put the power of transformation into your practical lives. You are moving forward very well with love for self-transformation and, along with that, the transformation of those like you. You have imbibed the specialities of both the power of love and the power of transformation with courage and are showing the proof of that very well.

Today, Bap and Dada had a conversation between themselves in the subtle region about the specialities of the children. Now, this year’s season of avyakt meetings in the vyakt (corporeal) form and the mela (gatherings) of meetings is coming to an end. So, BapDada was seeing everyone’s result. Generally, there is a constant meeting in the avyakt form with the avyakt stage anyway and it will always be there. However, the times for meeting in the corporeal form have to be fixed, and the limitations of time have to be considered for this. There are no limitations of time in meetings in the avyakt form. Each one of you can celebrate a meeting for as long as you want. By experiencing avyakt power, you can make yourself and service constantly move forward. Nevertheless, according to the fixed time, although this year’s season is now coming to an end, you are not coming to an end, but you are becoming complete. To meet means to become complete. You are becoming equal, are you not? So, it is not the end. Although the time of the season is coming to an end, you yourselves have become equal and complete, and this is why BapDada was very pleased to bring all the double-foreign children from everywhere into the subtle region: some can come in the corporeal form, whereas others cannot. This is why you send your photos or your letters. However, BapDada can easily make a gathering from everywhere emerge in the avyakt form. If everyone were invited to come and stay here, all the facilities for everyone to stay here would be needed. In the avyakt region, there is no need for all those physical facilities. There, if you were to gather not just the double foreign children, but even the children from the whole of Bharat, it would feel like an unlimited avyakt region. No matter how many hundreds of thousands there are there, it would still seem as though you are only seeing a small gathering. So, today, Baba only emerged the double foreigners in the subtle region.

BapDada was seeing that although you have different customs and systems, you have progressed very well with your determined thoughts. The majority of you are moving along with zeal and enthusiasm. Of course there are still some who will always show their games, but the result Baba saw was that you used to be a lot more confused until last year. However, in this year’s result Baba saw that many children were stronger now than they were last year. BapDada still saw some children who show Him their games. You still play games of being confused, do you not? If you were to take a video at that time and then sit and watch it, you would feel as if it were a drama. However, it is different from before. Now, those who have become experienced are also becoming mature. So, Baba saw in the result that your love for the study and enthusiasm for remembrance easily transform the different customs, systems and beliefs. For the people of Bharat, transformation is easy. They know the deities and they have mixed knowledge of the scriptures and so the beliefs are not that new for the people of Bharat. Overall, out of all the children everywhere, Baba saw souls whose intellects had such faith that they were unshakeable and immovable. Those whose intellect have such faith also become examples to enable others to have intellects with such faith. Whilst living at home with your families, you transform your vision and attitude with your powerful thoughts. Baba saw such special jewels. Even those children who were previously completely engrossed in their temporary facilities and temporary happiness, according to their own customs etc., are now moving along in the line of intense effort-makers and are constantly bringing about transformation day and night. Even if there aren’t that many, they are still good. BapDada gives the example of “jaatku” (those who perform a sacrifice with one strike). In the same way, after your mind has thought about renunciation, your vision is not drawn back: there were still such ones. Today, Baba was looking at the total result. Whilst looking at the powerful souls, Bap and Dada smiled and had a heart-to-heart conversation about how two types of Brahma’s creation are remembered. First are the Brahmins that have emerged from the mouth of Brahma. The other creation is the world that Brahma created with his thoughts. Father Brahma had elevated, powerful thoughts for such a long time. Although there are both Bap and Dada, the creation would not be called the creation of Shiva. You are called the dynasty of Shiva. You are not called Shiv Kumars and Shiv Kumaris. You are called Brahma Kumars and Brahma Kumaris. So, Brahma especially invoked you with elevated thoughts, that is, he created creation. So, you have arrived here in corporeal forms through the invocations of powerful thoughts of Father Brahma.

The creation of thoughts is no less. The thoughts had to be powerful because the children had to be brought from far away into his family from behind the different curtains. Such elevated, powerful thoughts inspired you and brought you close. Therefore, this creation made through powerful thoughts is also powerful. Many of you had the experience of someone especially inspiring your intellect and bringing you close. Because of the powerful thoughts of Brahma, as soon as you see the picture of Brahma, you experience it to be alive. You are moving forward by experiencing a living relationship. So BapDada was pleased to see the creation. You will now continue to give the practical proof of an even more powerful creation. In terms of the time of double foreign service, the time of childhood is now over. It is now time to become experienced and to make others unshakeable and immovable and to give others an experience. The time for playing games is now over. Now be constantly powerful and continue to make weak souls powerful. If you have sanskars of weakness, you will make others weak too. There is little time and the maximum creation is going to come. Don’t be happy with just this quantity, thinking that there are now many. The quantity is now only going to increase. However, the time you have been taking and the method of your sustenance are now going to change.

There was a difference in the 50 years of sustenance received by those of the Golden Jubilee and by those of the Silver Jubilee. In the same way, there will continue to be a difference for those who come later. So, make them powerful in a short time. Of course there will be their own elevated feelings anyway. However, all of you also have to help them to move forward with your relationships and connections in a short time so that they will easily have the enthusiasm and courage to move forward. This service is now going to increase a great deal. It is no longer the time to accumulate power just for yourself, because along with power for yourself, you also have to accumulate so much power for others that you are able to give them co-operation. You mustn’t become those who just take co-operation, but also become those who give co-operation. For those who have already been here for two years, those two years are not a small thing. You have to experience everything in a short time. You show in the picture of the tree that even the souls who come at the end definitely have to pass through the four stages and that it doesn’t matter whether they take 10 to 12 births or however many births. So, even those who come at the end have to experience all the powers in a short time. You have to experience a student life as well as being a server. Servers don’t just have to give courses and give lectures. A server means constantly to give the co-operation of zeal and enthusiasm, to co-operate in making others powerful. You have to pass in all subjects in a short time. Only when you do everything at such a fast speed will you be able to reach your destination. Therefore, you have to co-operate with one another. You mustn’t have yoga with one another. Don’t start having yoga with one another. By giving constant co-operation, a co-operative soul brings others close to the Father and makes them equal. You mustn’t make others equal to yourselves, but equal to the Father. Leave all your weaknesses here. Do not take them back with you to foreign lands. You have to become powerful souls and make others powerful. Let this determined thought be constantly in your awareness. Achcha.

Baba is especially giving love-filled remembrance to all the children everywhere. To the elevated souls who are constantly loving, co-operative and powerful, BapDada’s love, remembrance and namaste.

All of you have the happiness that even though there is variety, you all now belong to the One, do you not? There are now no longer different directions. You are the elevated souls who follow God’s directions. The language of Brahmins is the same. You belong to the one Father and you have to give the knowledge of the one Father to everyone and make them belong to the Father. This is such a big and elevated family. Wherever you go, whichever country you go to, you have the intoxication that you are at home there. A service centre means your home. There wouldn’t be anyone else who would have so many homes. If anyone asks you where people of your acquaintance are, you would say that they are all over the world. Wherever you go, there is your family. You have a right to the unlimited. You have become servers. To be a server means to be one who has all rights. You have this unlimited, spiritual happiness. Now, every place is growing with its powerful stage. At first it takes a little effort. Then, when a few examples are created, others who see them easily continue to move forward.

BapDada repeatedly reminds all of you children of this elevated thought. You yourselves constantly have to maintain zeal and enthusiasm for having remembrance and doing service and continue to move forward at a fast speed in happiness and also continue to enable others to move in the same way with zeal and enthusiasm. Baba has received photos and letters from all the children everywhere who haven’t been able to come here physically. In response to everyone, BapDada is giving everyone multimillionfold love and remembrance from the heart. However much zeal and enthusiasm you have now, increase that multimillion-fold. Some have even written about their weaknesses, so BapDada says to them: To write to Baba means to give them to Baba. So don’t keep with you anything that you have given away. Once you have given away your weaknesses, do not recall them even in your thoughts. Thirdly, never become disheartened with your own sanskars, the sanskars of the gathering or any upheaval in the atmosphere. Always experience the Father to be combined with you. From being disheartened, become powerful and continue to fly ahead. When karmic accounts are settled, it means a burden has been removed. Continue to burn away the burdens of the past in happiness. BapDada always co-operates with you children. Do not think too much. Waste thoughts too make you weak. If you have a lot of waste thoughts, read a murli two to four times. Churn it and continue to study it and one point or another will then sit in your intellect. Continue to accumulate power from having pure thoughts and waste will end. Do you understand?

Special inspirations from BapDada

Everywhere, whether abroad or in this land, there are many small places. According to the present time, they are ordinary, but the children are full of all treasures. There are many who have hoped for a long time on their behalf to take the instrument children on a tour there but, their desire has not been fulfilled. BapDada is fulfilling that desire. Make special plans for the Maharathi children, so that they go to ignite the lamps of hope in others. BapDada is giving special time to awaken the lamps of hope. All of you Maharathi children together should share out the different areas to go to and fulfil the hopes of the children in the villages who are not able to come here because of the time. You go to the main places because they have big programmes, but the programmes that they do in the little places according to their capacity, are their big programmes. Their bhavna (loving feeling) is their biggest function. BapDada has had requests from many such children in a file for a long time and BapDada wishes to complete this file. Baba is giving Maharathi children a special chance for them to become rulers of the globe. So, do not say: Dadi should go to all places. No. If one Dadi goes everywhere, it would take five years. Would you then accept it, if BapDada were not to come for five years? It would not be good if BapDada’s meeting happens here (in Madhuban) and Dadi is on a tour. So, make a programme for the Maharathis. Make a programme to go to the places where no one has yet been. This year, wherever you go especially, serve the public one day and have a tapasya programme for the Brahmins another day – do not just go to public functions and come back running – as much as possible, create programmes through which there is special refreshment for them. Along with this, let there be programmes where you can connect with the VIPs, but let them be short programmes. Make such programmes where Brahmins can receive the power of zeal and enthusiasm and can also be filled with courage and enthusiasm to become free from obstacles. So, Baba is giving time for you to make a programme of going on a tour everywhere because, according to the time, the circumstances are also changing and will continue to change. Therefore, now complete the file. Achcha.

Blessing: May you be an easy effort-maker who makes the atmosphere spiritual with your elevated stage of spirituality.
With your stage of spirituality, make the atmosphere at your service place spiritual so that there can easily be progress for yourself and for the souls who are to come. This is because all of those who come are tired of the atmosphere outside and they need extra co-operation. Therefore, give them the co-operation of a spiritual atmosphere. Let each soul who comes experience it to be a place where they can easily make progress.
Slogan: Become a bestower of blessings and continue to give blessings of good wishes and pure feelings.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

04-10-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 29-03-86 मधुबन

डबल विदेशी बच्चों से बापदादा की रूह-रिहान

आज बापदादा चारों ओर के डबल विदेशी बच्चों को वतन में इमर्ज कर सभी बच्चों की विशेषताओं को देख रहे थे क्योंकि सभी बच्चे विशेष आत्मायें हैं तब ही बाप के बने हैं अर्थात् श्रेष्ठ भाग्यवान बने हैं। विशेष सभी हैं फिर भी नम्बरवार तो कहेंगे। तो आज बापदादा डबल विदेशी बच्चों को विशेष रूप से देख रहे थे। थोड़े समय में चारों ओर के भिन्न-भिन्न रीति-रसम वा मान्यता होते हुए भी एक मान्यता के एकमत वाले बन गये हैं। बाप-दादा विशेष दो विशेषतायें मैजारिटी में देख रहे हैं। एक तो स्नेह के सम्बन्ध में बहुत जल्दी बंध गये हैं। स्नेह के सम्बन्ध में, ईश्वरीय परिवार का बनने में, बाप का बनने में अच्छा सहयोग दिया है। तो एक स्नेह में आने की विशेषता, दूसरा स्नेह के कारण परिवर्तन-शक्ति सहज प्रैक्टिकल में लाया। स्व-परिवर्तन और साथ-साथ हमजिन्स के परिवर्तन में अच्छी लगन से आगे बढ़ रहे हैं। तो स्नेह की शक्ति और परिवर्तन करने की शक्ति इन दोनों विशेषताओं को हिम्मत से धारण कर अच्छा ही सबूत दिखा रहे हैं।

आज वतन में बापदादा आपस में बच्चों की विशेषता पर रूह-रिहान कर रहे थे। अभी इस वर्ष के अव्यक्त का व्यक्त में मिलने का सीजन कहो वा मिलन मेला कहो समाप्त हो रहा है, तो बापदादा सभी की रिजल्ट को देख रहे थे। वैसे तो अव्यक्त रूप से अव्यक्त स्थिति से सदा का मिलन है ही और सदा रहेगा। लेकिन साकार रूप द्वारा मिलन का समय निश्चित करना पड़ता है और इसमें समय की हद रखनी पड़ती है। अव्यक्त रूप के मिलन में समय की हद नहीं है, जो जितना चाहे मिलन मना सकते हैं। अव्यक्त शक्ति की अनुभूति कर स्वयं को सेवा को सदा आगे बढ़ा सकते हैं। फिर भी निश्चित समय के प्रमाण इस वर्ष की यह सीजन समाप्त हो रही है। लेकिन समाप्त नहीं है सम्पन्न बन रहे हैं। मिलना अर्थात् समान बनना। समान बने ना। तो समाप्ति नहीं है, भले सीजन का समय तो समाप्त हो रहा है लेकिन स्वयं समान और सम्पन्न बन गये इसलिए बापदादा चारों ओर के डबल विदेशी बच्चों को वतन में देख हर्षित हो रहे थे क्योंकि साकार में तो कोई आ सकता, कोई नहीं भी आ सकता, इसलिए अपना चित्र अथवा पत्र भेज देते हैं। लेकिन अव्यक्त रूप में बापदादा चारों ओर के संग”न को सहज इमर्ज कर सकता है। अगर यहाँ सभी को बुलावें फिर भी रहने आदि का सब साधन चाहिए। अव्यक्त वतन में तो इन स्थूल साधनों की कोई आवश्यकता नहीं। वहाँ तो सिर्फ डबल विदेशी क्या लेकिन सारे भारत के बच्चे भी इकट्ठे करो तो ऐसे लगेगा जैसे बेहद का अव्यक्त वतन है। वहाँ भले कितने भी लाख हों फिर भी ऐसे ही लगेगा जैसे छोटा-सा संगठन दिखाई दे रहा है। तो आज वतन में सिर्फ डबल विदेशियों को इमर्ज किया था।

बापदादा देख रहे थे कि भिन्न रसम-रिवाज़ होते हुए भी दृढ़ संकल्प से प्रगति अच्छी की है। मैजारिटी उमंग-उत्साह में चल रहे हैं। कोई-कोई खेल दिखाने वाले होते ही हैं लेकिन रिजल्ट में यह अन्तर देखा कि अगले वर्ष तक कनफ्यूज ज्यादा होते थे। लेकिन इस वर्ष की रिजल्ट में कई बच्चे पहले से मजबूत देखे। कोई-कोई बापदादा को खेल दिखाने वाले बच्चे भी देखे। कनफ्यूज होने का भी खेल करते हैं ना। उस समय का वीडियो निकाल बैठ देखो तो आपको बिल्कुल ड्रामा लगेगा। लेकिन पहले से अन्तर है। अभी अनुभवी बने हुए गम्भीर भी बन रहे हैं। तो यह रिजल्ट देखी कि पढ़ाई से प्यार और याद में रहने का उमंग भिन्न रीति-रसम मान्यता को सहज बदल देता है। भारतवासियों को परिवर्तन होने में सहज है। देवताओं को जानते हैं, शास्त्रों के मिक्स नॉलेज को जानते हैं तो मान्यतायें भारतवासियों के लिए इतनी नवीन नहीं है। फिर भी टोटल चारों ओर के बच्चों में ऐसे निश्चय बुद्धि, अटल, अचल आत्मायें देखीं। ऐसे निश्चय बुद्धि औरों को भी निश्चयबुद्धि बनाने में एक्जाम्पुल बने हुए हैं। प्रवृत्ति में रहते भी पावरफुल संकल्प से दृष्टि, वृत्ति परिवर्तन कर लेते। वह भी विशेष रत्न देखे। कई ऐसे भी बच्चे हैं जो जितना ही अपनी रीति प्रमाण अल्पकाल के साधनों में, अल्पकाल के सुखों में मस्त थे, ऐसे भी रात-दिन के परिवर्तन में अच्छे तीव्र पुरूषार्थियों की लाइन में चल रहे हैं। चाहे ज्यादा अन्दाज न भी हो लेकिन फिर भी अच्छे हैं। जैसे बापदादा झाटकू का दृष्टान्त देते हैं। ऐसे मन से त्याग का संकल्प करने के बाद फिर ऑख भी न डूबे ऐसे भी हैं। आज टोटल रिजल्ट देख रहे थे। शक्तिशाली आत्माओं को देख बापदादा मुस्कराते हुए रूह-रिहान कर रहे थे कि ब्रह्मा की रचना दो प्रकार की गाई हुई है। एक ब्रह्मा के मुख से ब्राह्मण निकले। और दूसरी रचना-ब्रह्मा ने संकल्प से सृष्टि रची। तो ब्रह्मा बाप ने कितने समय से श्रेष्ठ शक्तिशाली संकल्प किया! हैं तो बाप-दादा दोनों ही फिर भी रचना के लिए शिव की रचना नहीं कहेंगे। शिव वंशी कहेंगे। शिव-कुमार शिवकुमारी नहीं कहेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारी कहेंगे। तो ब्रह्मा ने विशेष श्रेष्ठ संकल्प से आह्वान किया अर्थात् रचना रची। तो यह ब्रह्मा के शक्तिशाली संकल्प से, आवाह्न से साकार में पहुँच गये हैं।

संकल्प की रचना भी कम नहीं है। जैसे संकल्प शक्तिशाली है तो दूर से भिन्न पर्दों के अन्दर से बच्चों को अपने परिवार में लाना था, श्रेष्ठ शक्तिशाली संकल्प ने प्रेर कर समीप लाया, इसलिए यह शक्तिशाली संकल्प की रचना भी शक्तिशाली है। कईयों का अनुभव भी है – जैसे बुद्धि को विशेष कोई प्रेर कर समीप ला रहा है। ब्रह्मा के शक्तिशाली संकल्प के कारण ब्रह्मा के चित्र को देखते ही चेतन्यता का अनुभव होता है। चैतन्य सम्बन्ध के अनुभव से आगे बढ़ रहे हैं। तो बापदादा रचना को देख हर्षित हो रहे हैं। अभी आगे और भी शक्तिशाली रचना का प्रत्यक्ष सबूत देते रहेंगे। डबल विदेशियों की सेवा के समय के हिसाब से अब बचपन का समय समाप्त हुआ। अभी अनुभवी बन औरों को भी अचल अडोल बनाने का, अनुभव कराने का समय है। अभी खेल करने का समय समाप्त हुआ। अब सदा समर्थ बन निर्बल आत्माओं को समर्थ बनाते चलो। आप लोगों में निर्बलता के संस्कार होंगे तो दूसरों को भी निर्बल बनायेंगे। समय कम है और रचना ज्यादा-से-ज्यादा आने वाली है। इतनी संख्या में ही खुश नहीं हो जाना कि बहुत हो गये। अभी तो संख्या बढ़नी ही है। लेकिन जैसे आपने इतना समय पालना ली और जिस विधि से आप लोगों ने पालना ली, अब वह परिवर्तन होता जायेगा।

जैसे 50 वर्षों की पालना वाले गोल्डन जुबली वालों में और सिल्वर जुबली वालों में अन्तर रहा है ना। ऐसे पीछे आने वालों में अन्तर होता जायेगा। तो थोड़े समय में उन्हें शक्तिशाली बनाना है। स्वयं उन्हों की श्रेष्ठ भावना तो होगी ही। लेकिन आप सभी को भी ऐसे थोड़े समय में आगे बढ़ने वाले बच्चों को अपने सम्बन्ध और सम्पर्क का सहयोग देना ही है, जिससे उन्हों को सहज आगे बढ़ने का उमंग और हिम्मत हो। अभी यह सेवा बहुत होनी है। सिर्फ अपने लिए शक्तियां जमा करने का समय नहीं है। लेकिन अपने साथ औरों के प्रति भी शक्तियाँ इतनी जमा करनी हैं जो औरों को भी सहयोग दे सको। सिर्फ सहयोग लेने वाले नहीं लेकिन देने वाले बनना है। जिन्हों को दो वर्ष भी हो गया है उन्हों के लिए दो वर्ष भी कम नहीं हैं। थोड़े टाइम में सब अनुभव करना है। जैसे वृक्ष में दिखाते हो ना, लास्ट आने वाली आत्मायें भी 4 स्टेजेस से पास जरूर होती हैं। फिर चाहे 10-12 जन्म भी हों या कितने भी हों। तो पीछे आने वालों को भी थोड़े समय में सर्वशक्तियों का अनुभव करना ही है। स्टूडेन्ट लाइफ का भी और साथ-साथ सेवाधारी का भी अनुभव करना है। सेवाधारी को सिर्फ कोर्स कराना या भाषण करना नहीं है। सेवाधारी अर्थात् सदा उमंग-उत्साह का सहयोग देना। शक्तिशाली बनाने का सहयोग देना। थोड़े समय में सर्व सबजेक्ट्स पास करनी हैं। इतना तीव्रगति से करेंगे तब तो पहुँचेंगे ना, इसलिए एक दो का सहयोगी बनना है। एक दो के योगी नहीं बनना। एक दो से योग लगाना नहीं शुरू करना। सहयोगी आत्मा सदा सहयोग से बाप के समीप और समान बना देती है। आप समान नहीं लेकिन बाप समान बनाना है। जो भी अपने में कमजोरी हो उनको यहाँ ही छोड़ जाना। विदेश में नहीं ले जाना। शक्तिशाली आत्मा बन शक्तिशाली बनाना है। यही विशेष दृढ़ संकल्प सदा स्मृति में हो। अच्छा!

चारों ओर के सभी बच्चों को विशेष स्नेह सम्पन्न यादप्यार दे रहे हैं। सदा स्नेही, सदा सहयोगी और शक्तिशाली ऐसी श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

सभी को यह खुशी है ना कि वैराइटी होते हुए भी एक के बन गये। अभी अलग-अलग मत नहीं है। एक ही ईश्वरीय मत पर चलने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हैं। ब्राह्मणों की भाषा भी एक ही है। एक बाप के हैं और बाप की नॉलेज औरों को भी दे सर्व को एक बाप का बनाना है। कितना बड़ा श्रेष्ठ परिवार है। जहाँ जाओ, जिस भी देश मे जाओ तो यह नशा है कि हमारा अपना घर है। सेवा स्थान अर्थात् अपना घर। ऐसा कोई भी नहीं होगा जिसके इतने घर हों। अगर आप लोगों से कोई पूछे – आपके परिचित कहाँ-कहाँ रहते हैं? तो कहेंगे सारे वर्ल्ड में हैं। जहाँ जाओ अपना ही परिवार है। कितने बेहद के अधिकारी हो गये। सेवाधारी हो गये। सेवाधारी बनना अर्थात् अधिकारी बनना। यह बेहद की रूहानी खुशी है। अभी हर एक स्थान अपनी शक्तिशाली स्थिति से विस्तार को प्राप्त हो रहा है। पहले थोड़ी मेहनत लगती है। फिर थोड़े एक्जाम्पुल बन जाते तो उन्हों को देख दूसरे सहज आगे बढ़ते रहते।

बापदादा सभी बच्चों को यही श्रेष्ठ संकल्प बार-बार स्मृति में दिलाते हैं कि सदा स्वयं भी याद और सेवा के उमंग-उत्साह में रहो, खुशी-खुशी से आगे तीव्रगति से बढ़ते चलो और दूसरों को भी ऐसे ही उमंग उत्साह से बढ़ाते चलो, और चारों ओर के जो साकार में नहीं पहुंचे हैं उन्हों के भी चित्र और पत्र सब पहुंचे हैं। सबके रेसपान्ड में बापदादा सभी को पद्मापदम गुणा दिल से याद-प्यार भी दे रहे हैं। जितना अभी उमंग-उत्साह, खुशी है उससे और पद्मगुणा बढ़ाओ। कोई-कोई ने अपनी कमजोरियों का समाचार भी लिखा है, उन्हों के लिए बापदादा कहते, लिखा अर्थात् बाप को दिया। दी हुई चीज़ फिर अपने पास नहीं रह सकती। कमजोरी दे दी फिर उसको संकल्प में भी नहीं लाना। तीसरी बात कभी भी किसी भी स्वयं के संस्कार वा संगठन के संस्कारों वा वायुमण्डल की हलचल से दिलशिकस्त नहीं होना। सदा बाप को कम्बाइन्ड रूप में अनुभव कर दिल-शिकस्त से शक्तिशाली बन आगे उड़ते रहो। हिसाब-किताब चुक्तू हुआ अर्थात् बोझ उतरा। खुशी-खुशी से पिछले बोझ को भस्म करते जाओ। बापदादा सदा बच्चों के सहयोगी हैं। ज्यादा सोचो भी नहीं। व्यर्थ सोच भी कमजोर कर देता है। जिसके व्यर्थ संकल्प ज्यादा चलते हैं तो दो चार बार मुरली पढ़ो। मनन करो, पढ़ते जाओ। कोई न कोई प्वाइंट बुद्धि में बैठ जायेगी। शुद्ध संकल्पों की शक्ति जमा करते जाओ तो व्यर्थ खत्म हो जायेगा। समझा।

बापदादा की विशेष प्रेरणायें

चारों ओर चाहे देश, चाहे विदेश में कई ऐसे छोटे-छोटे स्थान हैं। इस समय के प्रमाण साधारण हैं लेकिन मालामाल बच्चे हैं। तो ऐसे भी कई हैं जो निमित्त बने बच्चों को अपनी तरफ चक्कर लगाने की आशा बहुत समय से देख रहे हैं। लेकिन आश पूर्ण नहीं हो रही है। वह भी बापदादा आश पूरी कर रहे हैं। विशेष महारथी बच्चों को प्लैन बनाकर चारों ओर जिन्हों की आशा के दीपक बने हुए रखे हैं, वह जगाने जाना है। आशा के दीपक जगाने के लिए बापदादा विशेष समय दे रहे हैं। सभी महारथी मिलकर भिन्न-भिन्न एरिया बांट, गांव के बच्चे, जिन्हों के पास समय के कारण नहीं जा सके हैं उन्हों की आश पूरी करनी है। मुख्य स्थानों पर तो मुख्य प्रोग्राम्स के कारण जाते ही हैं लेकिन जो छोटे-छोटे स्थान हैं, उन्हों के यथाशक्ति प्रोग्राम ही बड़े प्रोग्राम हैं। उन्हों की भावना ही सबसे बड़ा फंक्शन है। बापदादा के पास ऐसे कई बच्चों की बहुत समय की अर्जियां फाइल में पड़ी हुई हैं। यह फाइल भी बापदादा पूरा करना चाहते हैं। महारथी बच्चों को चक्रवर्ती बनने का विशेष चांस दे रहे हैं। फिर ऐसे नहीं कहना – सब जगह दादी जावे। नहीं, अगर एक ही दादी सब तरफ जावे फिर तो 5 वर्ष लग जाएं। और फिर 5 वर्ष बापदादा न आवे यह मंजूर है? बापदादा की सीजन यहाँ हो और दादी चक्र पर जाये, यह भी अच्छा नहीं लगेगा इसलिए महारथियों का प्रोग्राम बनाना। जहाँ कोई नहीं गया है वहाँ जाने का बनाना और विशेष इस वर्ष जहाँ भी जावे तो एक दिन बाहर की सेवा, एक दिन ब्राह्मणों की तपस्या का प्रोग्राम – यह दोनों प्रोग्राम जरूर हों। सिर्फ फंक्शन में जाए भाग-दौड़ कर नहीं आना है। जितना हो सके ऐसा प्रोग्राम बनाओ जिसमें ब्राह्मणों की विशेष रिफ्रेशमेन्ट हो। और साथ-साथ ऐसा प्रोग्राम हो जिससे वीआईपीज का भी सम्पर्क हो जाए लेकिन शार्ट प्रोग्राम हो। पहले से ही ऐसा प्रोग्राम बनावें जिसमें ब्राह्मणों को भी विशेष उमंग-उत्साह की शक्ति मिले। निर्विघ्न बनने का हिम्मत उल्लास भरे। तो चारों ओर का चक्र का प्रोग्राम बनाने के लिए भी विशेष समय दे रहे हैं क्योंकि समय प्रमाण सरकमस्टांस भी बदल रहे हैं और बदलते रहेंगे इसलिए फाइल को खत्म करना है। अच्छा।

वरदान:- रूहानियत की श्रेष्ठ स्थिति द्वारा वातावरण को रूहानी बनाने वाले सहज पुरूषार्थी भव
रूहानियत की स्थिति द्वारा अपने सेवाकेन्द्र का ऐसा रूहानी वातावरण बनाओ जिससे स्वयं की और आने वाली आत्माओं की सहज उन्नति हो सके क्योंकि जो भी बाहर के वातावरण से थके हुए आते हैं उन्हें एकस्ट्रा सहयोग की आवश्यकता होती है इसलिए उन्हें रूहानी वायुमण्डल का सहयोग दो। सहज पुरूषार्थी बनो और बनाओ। हर एक आने वाली आत्मा अनुभव करे कि यह स्थान सहज ही उन्नति प्राप्त करने का है।
स्लोगन:- वरदानी बन शुभ भावना और शुभ कामना का वरदान देते रहो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 October 2019

To Read Murli 3 October 2019:- Click Here
04-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद की यात्रा पर पूरा अटेन्शन दो, इससे ही तुम सतोप्रधान बनेंगे”
प्रश्नः- बाप अपने बच्चों पर कौन-सी मेहर करते हैं?
उत्तर:- बाप बच्चों के कल्याण के लिए जो डायरेक्शन देते हैं, यह डायरेक्शन देना ही उनकी मेहर (कृपा) है। बाप का पहला डायरेक्शन है – मीठे बच्चे, देही-अभिमानी बनो। देही-अभिमानी बहुत शान्त रहते हैं उनके ख्यालात कभी उल्टे नहीं चल सकते।
प्रश्नः- बच्चों को आपस में कौन-सा सेमीनार करना चाहिए?
उत्तर:- जब भी चक्र लगाने जाते हो तो याद की रेस करो और फिर बैठकर आपस में सेमीनार करो कि किसने कितना समय बाप को याद किया। यहाँ याद के लिए एकान्त भी बहुत अच्छा है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं तुम क्या कर रहे हो? रूहानी बच्चे कहेंगे – बाबा, हम जो सतोप्रधान थे सो तमोप्रधान बने हैं फिर बाबा आपकी श्रीमत अनुसार हमको सतोप्रधान जरूर बनना है। अभी बाबा आपने रास्ता बताया है। यह कोई नई बात नहीं। पुराने ते पुरानी बात है। सबसे पुरानी है याद की यात्रा, इसमें शो करने की बात नहीं। हर एक अपने अन्दर से पूछे हम कहाँ तक बाप को याद करते हैं? कहाँ तक सतोप्रधान बने हैं? क्या पुरूषार्थ कर रहे हैं? सतोप्रधान तब बनेंगे जब पिछाड़ी में अन्त आयेगा। उसका भी साक्षात्कार होता रहेगा। कोई जो कुछ करता है सो अपने लिए ही करता है। बाप भी कोई मेहर नहीं करते हैं। बाबा मेहर करते हैं जो बच्चों को डायरेक्शन देते हैं, उनके ही कल्याण अर्थ। बाप तो है ही कल्याण-कारी। कई बच्चे उल्टे ज्ञान में आ जाते हैं। बाबा फील करते हैं – देह-अभिमानी मगरूर होते हैं। देही-अभि-मानी बड़े शान्त रहेंगे। उनको कभी उल्टे-सुल्टे ख्याल नहीं आते हैं। बाप तो हर प्रकार से पुरूषार्थ कराते रहते हैं। माया भी बड़ी जबरदस्त है अच्छे-अच्छे बच्चों पर भी वार कर लेती है, इसलिए ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती। आज बहुत अच्छी रीति याद करते हैं, कल देह अहंकार में ऐसे आ जाते हैं जैसे सांड़े (गिरगिट)। सांड़े को अहंकार बहुत होता है। इसमें एक कहावत भी है – सुरमण्डल के साज़ से देह-अभिमानी सांड़े क्या जाने…….। देह-अभिमान बहुत खोटा है। बड़ी मेहनत करनी पड़ती है। शिवबाबा तो कहते हैं आई एम मोस्ट ओबीडियन्ट सर्वेन्ट। ऐसे नहीं, अपने को कहना सर्वेन्ट और नवाबी चलाते रहें। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, सतोप्रधान जरूर बनना है। यह तो बहुत सहज है, इसमें कोई चूँ-चाँ नहीं। मुख से कुछ बोलना नहीं है। कहाँ भी जाओ, अन्दर में याद करना है। ऐसे नहीं, यहाँ बैठते हैं तो बाबा मदद करते हैं। बाप तो आये ही हैं मदद करने। बाप को तो यह ख्याल रहता है – बच्चे, कहाँ कोई ग़फलत न करें। माया यहाँ ही घूसा मार देती है। देह-अभिमान बहुत-बहुत खराब है। देह-अभिमान में आने से बिल्कुल ही पट में आकर पड़े हैं। बाबा कहते हैं यहाँ आकर बैठते हो तो भी मोस्ट बिलवेड बाप को याद करो। बाप कहते हैं मैं ही पतित-पावन हूँ, मेरे को याद करने से, इस योग अग्नि से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होंगे। बच्चों की अभी वह अवस्था आई नहीं है, जो कोई को भी अच्छी रीति समझा सकें। ज्ञान तलवार में भी योग का जौहर चाहिए। नहीं तो तलवार कोई काम की नहीं रहती। मूल बात है ही याद की यात्रा। बहुत बच्चे उल्टे-सुल्टे धन्धे में लगे रहते हैं। याद की यात्रा और पढ़ाई करते नहीं इसलिए इसमें टाइम नहीं मिलता। बाप कहते हैं ऐसी मेहनत नहीं करो जो धन्धे धोरी के पिछाड़ी अपना पद गंवा दो। अपना भविष्य तो बनाना है ना। परन्तु सतोप्रधान बनना है। इसमें ही बहुत मेहनत है। बहुत बड़े-बड़े म्युज़ियम आदि सम्भालने वाले हैं परन्तु याद की यात्रा में नहीं रहते। बाबा ने समझाया है याद की यात्रा में गरीब, बांधेलियां ज्यादा रहती हैं। घड़ी-घड़ी शिवबाबा को याद करते रहते हैं। शिवबाबा हमारे यह बन्धन खलास करो। अबलाओं पर अत्याचार होते हैं, यह भी गायन है।

तुम बच्चों को बहुत मीठा बनना है। सच्चे-सच्चे स्टूडेन्ट बनो। अच्छे स्टूडेन्ट जो होते हैं वह एकान्त में बगीचे में जाकर पढ़ते हैं। तुमको भी बाप कहते हैं भल कहाँ भी चक्र लगाने जाओ अपने को आत्मा समझ बाबा को याद करो। याद की यात्रा का शौक रखो। उस धन कमाने की भेंट में यह अविनाशी धन तो बहुत-बहुत ऊंचा है। वह विनाशी धन तो फिर भी खाक हो जाना है। बाबा जानते हैं – बच्चे सर्विस पूरी नहीं करते, याद में मुश्किल रहते हैं। सच्ची सर्विस जो करनी चाहिए वह नहीं करते। बाकी स्थूल सर्विस में ध्यान चला जाता है। भल ड्रामा अनुसार होता है परन्तु बाप फिर भी पुरूषार्थ तो करायेंगे ना। बाप कहते हैं कोई भी काम करो – कपड़े सिलते हो, बाप को याद करो। याद में ही माया विघ्न डालती है। बाबा ने समझाया है रूसतम से माया भी रूसतम होकर लड़ती है। बाबा अपना भी बतलाते हैं। मैं रूसतम हूँ, जानता हूँ मैं बेगर टू प्रिन्स बनने वाला हूँ तो भी माया सामना करती है। माया किसको भी छोड़ती नहीं है। पहलवानों से तो और ही लड़ती है। कई बच्चे अपने देह के अहंकार में बहुत रहते हैं। बाप कितना निरहंकारी रहते हैं। कहते हैं मैं भी तुम बच्चों को नमस्ते करने वाला सर्वेन्ट हूँ। वह तो अपने को बहुत ऊंच समझते हैं। यह देह-अहंकार सब तोड़ना है। बहुतों में अहंकार का भूत बैठा हुआ है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो। यहाँ तो बहुत अच्छा चांस है। घूमने-फिरने का भी अच्छा है। फुर्सत भी है, भल चक्र लगाओ फिर एक-दो से पूछो कितना समय याद में रहे, और कोई तरफ बुद्धि तो नहीं गई? यह आपस में सेमीनार करना चाहिए। भल फीमेल अलग, मेल अलग हों। फीमेल आगे हों, मेल पिछाड़ी में हो क्योंकि माताओं की सम्भाल करनी है इसलिए माताओं को आगे रखना है। बहुत अच्छी एकान्त है। सन्यासी भी एकान्त में चले जाते हैं। सतोप्रधान सन्यासी जो थे वह बहुत निडर रहते थे। जानवर आदि कोई से डरते नहीं थे। उस नशे में रहते थे। अभी तमोप्रधान बन पड़े हैं। हर एक धर्म जो स्थापन होता है, पहले सतोप्रधान होता है फिर रजो तमो में आते हैं। सन्यासी जो सतोप्रधान थे वह ब्रह्म की मस्ती में मस्त रहते थे। उनमें बड़ी कशिश होती थी। जंगल में भोजन मिलता था। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान होने से ताकत कम होती जाती है।

तो बाबा राय देते हैं – यहाँ बच्चों को अपनी उन्नति के चांस बहुत अच्छे हैं। यहाँ तुम आते ही हो कमाई करने के लिए। बाबा से सिर्फ मिलने से कमाई थोड़ेही होगी। बाप को याद करेंगे तो कमाई होगी। ऐसे मत समझो बाबा आशीर्वाद करेंगे, कुछ भी नहीं। वह साधू लोग आदि आशीर्वाद करते हैं, लेकिन तुमको नीचे गिरना ही है। अब बाप कहते हैं – जिन्न बनकर अपना बुद्धियोग ऊपर लगाओ। जिन्न की कहानी है ना। बोला हमको काम दो। बाप भी कहते हैं – तुमको डायरेक्शन देता हूँ, याद में रहो तो बेड़ा पार हो जायेगा। तुम्हें सतोप्रधान जरूर बनना है। माया कितना भी माथा मारे हम तो श्रेष्ठ बाप को जरूर याद करेंगे। ऐसे अन्दर में बाप की महिमा करते बाप को याद करते रहो। कोई भी मनुष्य को याद न करो। भक्ति मार्ग की जो रस्म है वह ज्ञान मार्ग में हो नहीं सकती। बाप शिक्षा देते हैं याद की यात्रा में तीखा जाना है। मूल बात यह है। सतोप्र-धान बनना है। बाप के डायरेक्शन मिलते हैं – घूमने फिरने जाते हो तो भी याद में रहो। तो घर भी याद रहेगा, राजाई भी याद रहेगी। ऐसे नहीं, याद में बैठे-बैठे गिर पड़ना है। वह तो फिर हठयोग हो जाता है। यह तो सीधी बात है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। कई बच्चे बैठे-बैठे गिर पड़ते हैं इसलिए बाबा तो कहते हैं चलते-फिरते, खाते-पीते याद में रहो। ऐसे नहीं, बैठे-बैठे बेहोश हो जाओ। इनसे कोई तुम्हारे पाप नहीं कटेंगे। यह भी माया के बहुत विघ्न पड़ते हैं। यह भोग आदि की भी रस्म-रिवाज़ है, बाकी इनमें कुछ है नहीं। यह न ज्ञान है, न योग है। साक्षात्कार की कोई दरकार नहीं। बहुतों को साक्षात्कार हुए, वह आज हैं नहीं। माया बड़ी प्रबल है। साक्षात्कार की कभी आश भी नहीं रखनी चाहिए। इसमें तो बाप को याद करना है – सतोप्रधान बनने के लिए। ड्रामा को भी जानते हो, यह अनादि ड्रामा बना हुआ है जो रिपीट होता रहता है, इसे भी समझना है और बाप जो डायरेक्शन देते हैं उस पर भी चलना है। बच्चे जानते हैं – हम फिर से आये हैं राजयोग सीखने। भारत की ही बात है। यही तमोप्रधान बना है फिर इनको ही सतोप्रधान बनना है। बाप भी भारत में ही आकर सबकी सद्गति करते हैं। यह बड़ा वन्डरफुल खेल है। अब बाप कहते हैं – मीठे-मीठे रूहानी बच्चे, अपने को आत्मा समझो। तुमको 84 का चक्र लगाते पूरे 5 हज़ार वर्ष हुए हैं। अब फिर वापिस जाना है। यह बातें और कोई कह न सके। तुम बच्चों में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार निश्चयबुद्धि होते जाते हैं। यह बेहद की पाठशाला है। बच्चे जानते हैं – बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं, वह उस्ताद टीचर है, बहुत बड़ा उस्ताद है। बहुत प्रेम से समझाते हैं। कितने अच्छे-अच्छे बच्चे बड़ा आराम से 6 बजे तक सोये हुए रहते हैं। माया एकदम नाक से पकड़ लेती है। हुक्म चलाते रहते हैं। शुरू में तुम जब भट्ठी में थे तो मम्मा-बाबा भी सब सर्विस करते थे। जैसे कर्म हम करेंगे हमको देखकर और करेंगे। बाबा तो जानते हैं महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे नम्बरवार हैं। कई बच्चे बड़ा आराम से रहते हैं। अन्दर सोये रहते हैं। बाहर में कोई पूछे फलाना कहाँ है? तो कहेंगे, है नहीं। परन्तु अन्दर सोये पड़े हैं। क्या-क्या होता रहता है, बाबा सम-झाते हैं। सम्पूर्ण तो कोई भी बना नहीं है, कितनी डिससर्विस कर लेते हैं। नहीं तो बाप के लिए गायन है – मारो चाहे प्यार करो, हम तेरा दरवाजा नहीं छोड़ेंगे। यहाँ तो थोड़ी बात पर रूठ पड़ते हैं। योग की बहुत कमी है। बाबा कितना बच्चों को समझाते रहते हैं, परन्तु कोई में ताकत नहीं जो लिखे। योग होगा तो लिखने में भी ताकत भरेगी। बाप कहते हैं यह अच्छी रीति सिद्ध करो – गीता का भगवान शिव है, न कि श्रीकृष्ण।

बाप आकर तुम बच्चों को सब बातों का अर्थ समझाते हैं। बच्चों को यहाँ नशा चढ़ता है फिर बाहर जाने से खत्म। टाइम वेस्ट बहुत करते हैं। हम कमाई कर यज्ञ को देवें, ऐसे ख्याल रख अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है। बाप कहते हैं हम तो तुम बच्चों का कल्याण करने के लिए आये हैं, तुम फिर अपना नुकसान कर रहे हो। यज्ञ में तो जिन्होंने कल्प पहले मदद की है वह करते रहते हैं, करते रहेंगे। तुम क्यों माथा मारते हो – यह करें, वह करें। ड्रामा में नूँध है – जिन्होंने बीज बोया है, वह अभी भी बोयेंगे। यज्ञ का तुम चिंतन नहीं करो। अपना कल्याण करो। अपने को मदद करो। भगवान को तुम मदद करते हो क्या? भगवान से तो तुम लेते हो या देते हो? यह ख्याल भी नहीं आना चाहिए। बाबा तो कहते हैं – लाडले बच्चों, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों। अभी तुम संगमयुग पर खड़े हो। संगम पर ही तुम दोनों तरफ देख सकते हो। यहाँ कितने ढेर मनुष्य हैं। सतयुग में कितने थोड़े मनुष्य होंगे। सारा दिन संगम पर खड़े रहना चाहिए। बाबा हमको क्या से क्या बनाते हैं! बाप का पार्ट कितना वन्डरफुल है। घूमों फिरो याद की यात्रा में रहो। बहुत बच्चे टाइम वेस्ट करते हैं। याद की यात्रा से ही बेड़ा पार होना है। कल्प पहले भी बच्चों को ऐसे समझाया था। ड्रामा रिपीट होता रहता है। उठते-बैठते सारा कल्प वृक्ष बुद्धि में याद रहे, यह है पढ़ाई। बाकी धन्धा आदि तो भल करो। पढ़ाई के लिए टाइम निकालना चाहिए। स्वीट बाप और स्वर्ग को याद करो। जितना याद करेंगे तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। बस बाबा, अब आपके पास आये कि आये। बाप की याद में फिर श्वांस भी सुखेला हो जायेगा। ब्रह्म ज्ञानियों के श्वास भी सुखाले (सुख वाले) हो जाते हैं। ब्रह्म की ही याद में रहते हैं, परन्तु ब्रह्म लोक में कोई जाता नहीं है। आपेही शरीर छोड़ दें – यह हो सकता है। कई फास्ट (उपवास) रखकर शरीर छोड़ देते हैं, वह दु:खी होकर मरते हैं। बाप तो कहते हैं खाओ पियो बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। मरना तो है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा याद रहे – जो कर्म हम करेंगे हमको देख और करेंगे…… ऐसा आराम-पसन्द नहीं बनना है जो डिससर्विस हो। बहुत-बहुत निरहंकारी रहना है। अपने को आपेही मदद कर अपना कल्याण करना है।

2) धन्धे-धोरी में ऐसा बिजी नहीं होना है जो याद की यात्रा वा पढ़ाई के लिए टाइम ही न मिले। देह-अभिमान बहुत खोटा और खराब है, इसे छोड़ देही-अभिमानी रहने की मेहनत करनी है।

वरदान:- विल पावर द्वारा सेकण्ड में व्यर्थ को फुलस्टाप लगाने वाले अशरीरी भव
सेकण्ड में अशरीरी बनने का फाउन्डेशन – यह बेहद की वैराग्य वृत्ति है। यह वैराग्य ऐसी योग्य धरनी है उसमें जो भी डालो उसका फल फौरन निकलता है। तो अब ऐसी विल पावर हो जो संकल्प किया – व्यर्थ समाप्त, तो सेकण्ड में समाप्त हो जाए। जब चाहो, जहाँ चाहो, जिस स्थिति में चाहो सेकण्ड में सेट कर लो, सेवा खींचे नहीं। सेकण्ड में फुलस्टाप लग जाए तो सहज ही अशरीरी बन जायेंगे।
स्लोगन:- बाप समान बनना है तो बिगड़ी को बनाने वाले बनो।

TODAY MURLI 4 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 2 October 2019:- Click Here

04/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, pay full attention to the pilgrimage of remembrance. It is only through this that you will become satopradhan.
Question: What mercy does the Father have for His children?
Answer: The directions that the Father gives for the benefit of you children are His mercy. The first direction of the Father is: Sweet children, become soul conscious. Those who are soul conscious remain very quiet. They can never have wrong thoughts.
Question: What seminar should you children hold amongst yourselves?
Answer: Whenever you go for a walk, have a race of remembrance and then sit and hold a seminar as to how long each one of you remembered the Father. Here, there is very good solitude for remembrance.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children: What are you doing? You spiritual children say: Baba, we have become tamopradhan from satopradhan and so, Baba, according to Your shrimat, we definitely have to become satopradhan again. Baba, You have now shown us the path. This is not anything new. It is the oldest thing of all. The oldest is the pilgrimage of remembrance, but there is no question of making a show of it. Each one of you can ask yourself: To what extent do I remember the Father? To what extent have I become satopradhan? What effort am I making? Only when the end finally comes can you become satopradhan. You will continue to have visions of that too. Whatever any of them do, they are only doing it for themselves. The Father does not have mercy for them. Baba’s mercy is to give you children directions for your own benefit. The Father is benevolent. Some children understand knowledge wrongly. Baba feels that those who are body conscious are arrogant whereas those who are soul conscious remain very quiet; they never have wrong thoughts. The Father inspires you to make effort in every way. Maya too is very powerful. She even attacks very good children and this is why a rosary of Brahmins cannot be created. Today, someone may have very good remembrance and tomorrow, he would have arrogance of the body like an ox, also like a chameleon. Oxen have a lot of arrogance. There is a saying: What do body-conscious oxen know of the celestial sounds of heaven? Body consciousness is very wrong. You have to make a lot of effort. Shiv Baba says: I am the most obedient Servant. It isn’t that He calls Himself the Servant and is then bossy. The Father says: Sweetest children, you definitely have to become satopradhan. This is very easy; there is no fuss about this. You don’t have to say anything with your mouth. Anywhere you go, have internal remembrance. It isn’t that Baba helps you only when you are sitting here. Baba has come especially to help you. The Father has the concern that children should not be careless in any way. Maya punches you here. Body consciousness is very bad. By becoming body conscious, they have completely fallen flat on the floor. Baba says: When you come and sit here, you must still remember the most beloved Father. The Father says: I alone am the Purifier. By remembering Me, your sins of many births will be burnt away in this fire of yoga. Some children have not yet reached the stage where they are able to explain to anyone very well. There also has to be the power of yoga in the sword of knowledge. Otherwise, the sword is of no use. The main thing is the pilgrimage of remembrance. Many children remain engaged in all sorts of wrong business. They don’t stay on the pilgrimage of remembrance and do not study and this is why they don’t have time for this. The Father says: Don’t make the kind of effort that you lose your status by being engrossed in your business etc. You have to create your future. However, you also have to become satopradhan. It is this that requires a lot of effort. There are many who look after big museums etc., but they don’t stay on the pilgrimage of remembrance. Baba has explained that the poor ones who are in bondage stay on the pilgrimage of remembrance to a greater extent. They continue to remember Shiv Baba repeatedly: Shiv Baba, finish this bondage of mine! It is also remembered that the innocent ones were assaulted. You children have to become very sweet. Become true students. Those who are good students go and study in the gardens in solitude. The Father also says to you: Wherever you go for a walk, consider yourself to be a soul and remember Baba. Be interested in staying on the pilgrimage of remembrance. In comparison to earning that wealth, this imperishable wealth is very, very high. That perishable wealth will be turned to ashes. Baba knows that some children don’t do service fully and hardly stay in remembrance. They don’t do the real service that they should. Instead, their attention goes to doing physical service. Although that too happens according to the drama, the Father still inspires you to make effort. The Father says: Whatever work you are doing, even if you are sewing clothes, remember the Father. It is only in remembrance that Maya causes obstacles. Baba has explained that Maya also becomes powerful with the powerful ones and fights them. Baba also shares his own experience: I am powerful, I know that I am going to change from a beggar to a prince but, nevertheless, Maya opposes me. Maya doesn’t leave anyone alone. She fights the strong, brave ones even more strongly. Some children have a lot of body consciousness. The Father remains so egoless. He says: I am the Servant who salutes even you children. Those people consider themselves to be very elevated. All of this arrogance of the body has to be broken. Many have the evil spirit of arrogance. The Father says: Consider yourselves to be souls and continue to remember the Father. You have a very good chance here. There is very good touring and sightseeing here. You also have spare time. You may tour around and then ask one another: For how long did you stay in remembrance? Did your intellect go in any other direction? Hold a seminar on this amongst yourselves. You may have separate groups of males and females. Let the females be in the front and the males at the back; the mothers have to be looked after and this is why they have to be at the front. There is very good solitude here. Even sannyasis go away into solitude. Those who were satopradhan sannyasis were very fearless; they weren’t afraid of animals or anything. They used to stay in their own intoxication. They have now become tamopradhan. Every religion that is established is at first satopradhan and it then goes through the stages of rajo and tamo. Those who were satopradhan sannyasis used to remain in total intoxication of the element of brahm. They had great attraction. They would receive food in the forests. By becoming more tamopradhan day by day, their strength continues to decrease. So, Baba advises: You children have a very good chance for your self progress here. You come here to earn an income. You cannot earn an income just by meeting Baba. Only if you remember the Father will you earn an income. Do not think that Baba will bless you. Not at all! Those sannyasis give blessings, but you had to descend. The Father now says: Become genies and connect your intellects in yoga up above. There is the story of the genie who asked for something to do. The Father also says: I am giving you a direction: Stay in remembrance and your boat will go across. You definitely have to become satopradhan. No matter how much Maya beats our heads, we will definitely remember our elevated Father. Internally, continue to praise the Father in this way and continue to remember Him. Do not remember any human beings. The customs of the path of devotion cannot exist on the path of knowledge. The Father gives you teachings: You have to go fast on the pilgrimage of remembrance. This is the main thing. You have to become satopradhan. You receive the Father’s directions: Even when you go for walks or tour around, stay in remembrance. You will then also remember your home and the kingdom. It is not that you fall whilst sitting in remembrance. That would then become hatha yoga. This is something straightforward: you have to consider yourselves to be souls and remember the Father. Some children fall whilst sitting here and this is why Baba says: Whilst walking and moving, eating and drinking, stay in remembrance. Let it not be that whilst sitting here, you become unconscious. Your sins will not be cut away by doing that. There are also many obstacles from Maya. There is the custom and system of offering bhog etc., but that doesn’t really have anything in it. There are many obstacles of Maya in that. That is neither knowledge nor yoga. There is no need for visions. Many people who had visions are no longer here today. Maya is very powerful. You should never have any desire for visions. Here, you have to remember the Father in order to become satopradhan. You also know the drama: this is the eternally predestined drama that continues to repeat. You have to understand this and also follow the directions that the Father gives. You children know that you have come here once again to study Raja Yoga. This applies to Bharat alone. It is this that has become tamopradhan and it is this that has to become satopradhan once again. The Father too comes in Bharat alone and grants salvation to everyone. This is a very wonderful play. The Father now says: Sweetest, spiritual children: Consider yourselves to be souls. It has taken the full 5000 years to go around the cycle of 84 births. You now have to return home. No one else can say these things. Amongst you children too, you are continuing to become those whose intellects faith, numberwise, according to the efforts you make. This is an unlimited school. You children know that the unlimited Father is teaching you. That Master is the Teacher. He is the great Master. He explains with a lot of love. So many very good children remain sleeping very comfortably until 6.00 am. Maya completely catches hold of them by their noses. They continue to give orders. In the beginning, when you were in the bhatthi, Mama and Baba also used to do all types of service. Whatever actions I perform, others who see me will do the same. Baba knows that the elephant riders, the horse riders and the foot soldiers are all numberwise. Some children live very comfortably. They remain sleeping indoors, and then, when someone from outside asks where such-and-such a person is, they would say: He or she is not at home. However, they would be inside, sleeping. Baba explains to you all the things that continue to happen. No one has yet become perfect. So much disservice takes place. Otherwise, it is remembered regarding the Father: Whether you beat me or love me, I will not leave Your door. Here, children sulk over trivial matters. There is a great lack of yoga. Baba continues to explain to you children so much, but no one has the power to write to Baba. If you have yoga, your writing would then have power. The Father says: Prove it very clearly that the God of the Gita is Shiva and not Shri Krishna. The Father comes and explains the meaning of everything to you children. Children become intoxicated here, but as soon as they go outside, everything finishes; they waste a lot of time. Don’t waste your time, thinking that you will earn an income and contribute to the yagya. The Father says: I have come to benefit you children. You are causing yourselves a loss. Those who helped the yagya in the previous cycle will help and continue to do so. Why are you beating your heads thinking that you will do this and that? It is fixed in the drama: those who sowed those seeds will do that even now. Don’t worry about the yagya. Benefit yourselves! Help yourselves! Are you helping God? Are you taking from God or giving to God? You mustn’t even have such thoughts. Baba says: Beloved children, consider yourselves to be souls and stay in remembrance and your sins will be absolved. You are now at the confluence age. It is only at the confluence age that you can see both sides. There are so many human beings here. In the golden age, there will be very few human beings. You have to stand at the confluence age throughout the day. Look what Baba is making us from what we were! The Father’s part is so wonderful! You may tour around, but stay on the pilgrimage of remembrance. Many children waste their time. It is only through by having the pilgrimage of remembrance that your boat will go across. This was explained to you children in the same way in the previous cycle too. The drama continues to repeat. To study is to remember the whole kalpa tree with your intellect while walking and moving around. However, you may carry on with your business etc. You have to make time to study. Remember the sweet Father and heaven. The more you remember Him, the more your final thoughts will lead you to your destination. Baba, I am now coming to You. In remembrance of the Father, even your breathing will be joyful. The breathing of the brahm gyanis too is filled with happiness. They stay in remembrance of the brahm element, but none of them goes to the brahm world. It is possible for them to leave their bodies by themselves (at their own time). Some fast and leave their bodies; they die whilst experiencing sorrow. The Father says: Eat, drink and remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination. Everyone has to die. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remember: Whatever actions I perform, others who see me will do the same. Do not be someone who loves to rest and thereby does disservice. Remain very, very egoless. Help yourself and benefit yourself.
  2. Don’t remain so busy in your business etc. that you don’t have time for the pilgrimage of remembrance or to study. Body consciousness is very false and bad. Renounce it and make effort to become soul conscious.
Blessing: May you become bodiless by using your will power to put a full stop to all waste.
The foundation of becoming bodiless in a second is to have an attitude of unlimited disinterest. This disinterest is such a fertile land that whatever you plant in it, it will immediately bear fruit. So, now, have such will power that when you have the thought to finish all waste, it finishes in a second. Whenever you want, wherever you want and in whichever stage you want to stabilise yourself, set yourself in a second and let service not pull you. Put a full stop in a second and you will easily become bodiless.
Slogan: In order to become equal to the Father, become those who put right that which has gone wrong.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 4 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 October 2018 :- Click Here

04/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is bondage in relationships with bodies, therefore there is sorrow. Stay in relationships with souls and you will receive limitless happiness and remain in remembrance of the one Mother and Father.
Question: Which intoxication should you maintain so that you have the courage to conquer Maya?
Answer: Have the intoxication that you have stayed in remembrance of the Father every cycle, that you have become victorious over Maya, your enemy, and become like a diamond. God Himself is our Mother and Father. With this awareness and intoxication, you will receive courage. Children who have courage definitely become victorious and they remain constantly engaged in Godly service.
Song: The heart desires to call out to You. 

Om shanti. The worshippers of the deities have been remembering the parlokik Mother and Father, and the devotees know that the Mother and Father definitely has to come to give us the fruit of our devotion. Those poor people don’t know who that Mother and Father is. They call out to Him and this surely proves that they definitely have a relationship with Him. One is a lokik relationship and the other is the parlokik relationship. There are many types of lokik relationships. Paternal and maternal uncles etc. are lokik bondages. This is why they call out to the Supreme Father, the Supreme Soul. Children know that there are no bondages in the golden age. They call out to the Father: We are now in bondage and wish to have a relationship with You. Devotees remember that they are in many types of bondage. Because of remembering the bodies, there are many bondages. When in relationship with souls, you only remember the Mother and Father. There is the difference of day and night between remembering the lokik and the Parlokik. These are physical bondages whereas that is the spiritual relationship. You have physical relationships in the golden age because there are relationships of happiness there. Here, they are said to be bondages of sorrow. They wouldn’t be called relationships here. Previously, you didn’t know these things. You have now understood. You definitely used to call out: O Mother and Father, come! The Father would definitely only give happiness to everyone, but no one knows what the happiness is that the Father gives. You now have a relationship with the Father and you receive constant happiness from Him. Happiness is called relationship and sorrow is called bondage. Therefore, children call out to the Mother and Father to come and tell them such sweet things. Those people call out indirectly whereas you call out directly. They also remember: Oh Supreme Father, Supreme Soul. Since there is the Father, there must also surely be the Mother. How else would the Father create? How would children write a letter to Shiv Baba? He wouldn’t be able to read it just like that. Shiv Baba is sitting here. This is why you write: Shiv Babac/oBrahma. Shiv Baba definitely adopts someone’s body. It is sung: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. He is called the Satguru. He is the Bestower of Salvation for All. He comes and enters this body and then tells him the secret of 84 births. The night of Brahma and the day of Brahma have been remembered. First of all is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Creator. He creates Brahma, Vishnu and Shankar. Truly, the Supreme Father comes to make the night of Brahma into the day of Brahma. The day of Prajapita Brahma is also the day of the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. The golden and silver ages are called the day and the copper and iron ages are called the night. You children have now come to claim your inheritance of heaven from the Father. It is for Him that you sing: You are the Mother and Father. As the Friend, He comes and entertains you in a light-hearted way. The main three relationships are Father, Teacher and Satguru. Only through these is there benefit. However, there is no question of the relationships of paternal or maternal uncles etc. So the perfect Father comes and makes you children perfect. You are now becoming 16 celestial degrees full. You are experienced. How could anyone else know this? How could they understand any of this unless they came into the company of you children? You now know that there is bondage on the path of devotion too. You remember Him when you are in bondage to Ravan, the five vices. The Father’s name is the Liberator. The English word is very good. He liberates you. Human beings are liberated. He comes to liberate you from sorrow and the bondages of Maya. Then, He is also the Guide. It is also mentioned in the Gita that He takes everyone back like a swarm of mosquitoes. Therefore destruction will definitely take place. It is also remembered that He inspires establishment through Brahma and destruction through Shankar. Then sustenance also takes place through the one who carried out establishment. You are now becoming ready, numberwise, according to the effort you make. The bondages of the body have to be broken away from the intellect. Sannyasis leave their homes and families and run away. You study Raja Yoga while living at home. There is the example of Janak. He then became Anu Janak. Many children say that they want to live in their kingdom (home) like Janak and take knowledge. Each one is a king of his own home. The owner is called the king. There is the father, his wife, and their children, and so that is a limited creation. He creates it and also sustains it, but he cannot destroy it because the world has to grow. Everyone continues to create. It is only the unlimited Father who comes to create a new creation and have the old one destroyed. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar would carry out establishment of the new world and destruction of the old world. You children can understand these things very well. These things are very easy. The very name is easy yoga or remembrance. The knowledge and yoga of Bharat are very well known. The Father is now giving you children divine directions through which you will always remain cheerful. The new world is created by the Mother and Father. Everyone knows that God created them. You now understand how God comes and creates the new world. He adopts (creates) the new world. There are definitely the Mother and Father. There is the Father and then He adopts you through this one and so this one is the senior mother. The first adopted one is Saraswati. The Father entered this one. This Mama is adopted. For you, He is the Mother and Father. For me, He is my Husband and also my Father. He entered me and made me His wife and also His child. These are very entertaining things which you should listen to personally. You too understand these things, numberwise. If you have understood everything, then explain them to others. If you are unable to explain, it means you yourself haven’t understood anything. Anyone can tell you straightaway how a tree grows from a non-living seed. Until the Father comes and explains the knowledge of this unlimited tree, no one can understand it. You know that you are studying Raja Yoga with the Father and claiming your inheritance. This should be in your intellect. This is a double relationship. There, you have a single relationship; you don’t remember the parlokik Father. Here, all of these are bondages. You know that at this time you are also in that bondage. You have now entered a relationship with the Father to become free from that bondage. Nowadays, there are so many different directions. They continue to fight and quarrel with each other. They even fight over water and land. “This is within our boundary; this is not within your boundary.” They have become totally limited. They have forgotten that the people of Bharat were the masters of the unlimited in the golden age. Those who were the masters have forgotten this. They definitely had to forget, because it is only then that the Father can come and explain to you. You know these things at this time. There, there is bondage. Here, you have a relationship with the Mother and Father. You know that you follow shrimat and receive the inheritance of limitless happiness. The Father says: I give you the inheritance of happiness. Who then curses you? Maya, Ravan. There is sorrow in a curse and happiness in an inheritance. People don’t know who gives them the inheritance of sorrow. The Father establishes the golden age and so He would definitely give you the inheritance of happiness. The Father would not be called one who gives you the inheritance of sorrow. It is an enemy who causes you sorrow. However, no one understands these things. They have put the things of one time period into another. They say that Lanka was looted and that gold was brought over. There isn’t any gold in Ceylon. Gold is found in mines and in rivers at some places. You children now know that this is the eternal world drama. This knowledge is in the intellects of you children, numberwise, according to the efforts you make. What status will those who don’t understand anything and are unable to explain anything receive? They will have to bow down in front of those who are educated. There is a difference between the kings and queens and the subjects. Just as Mama and Baba go and claim a high status, so you too should make effort and study so much that you sit on the throne of Mama and Baba and become a bead of the rosary of victory. A lot of temptation is given to you. This is Raja Yoga. Claim the kingdom through Raja Yoga. At least make effort through which you will become a subject. It is always said: Follow the father. You are his children. There is that Father, then this father and then there is also the mother. She is number one in following him. You are brothers and sisters. There has to be the one Father. Everyone says: “Oh God, the Father!” and so all are brothers and sisters. There aren’t many other relationships: brothers and sisters and that’s all. They have father, grandfather, brother and sister, many relationships. Here, there is one Father and one Dada. There is the one Prajapita Brahma and creation is created through him. You brothers and sisters claim a status, numberwise, according to the efforts you make. All the rest will go and hang in their own section on the tree. They have their destination. They come down from there, numberwise. Here, there is bondage in life. When souls first come, they come into happiness. Therefore, there is first liberation-in-life. First of all, there is the liberation-in-life of the people of Bharat in heaven. The Father tells you such nice things. Mine is the one most elevated Teacher and none other. Kumaris say: Mine is one Shiv Baba. Kumaris have to pay full attention to this. Once you belong to this Government, you have to engage yourself in God’s service. How could you then continue with devilish service? Each of you is given advice according to your own karmic bondages. It is seen whether she is able to become free or not. When someone has a good, shrewd intellect, she can remain on Godly service only. You children are doing Godly service, the service of making others viceless. We are an army. God is teaching us how to battle with Maya. Ravan is our oldest enemy. Only you know this. You will conquer Ravan and then become like a diamond. You children should have that courage and intoxication. People continue to fight. Everywhere you look, there is nothing but fighting. We don’t fight with anyone. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. Maya won’t attack you then. Then, also remember your inheritance. You also have to relate this to someone. Give the Father’s introduction and connect their intellects in yoga to Him. He is our Mother and Father. Since Shiv Baba is the Father, tell us who your mother is. These are also such deep matters. You ask them who the Father of souls is. They would write: The Supreme Soul, God. OK, so where is the Mother? How can He create children without the Mother? So, they would then go towards the World Mother (Jagadamba). Achcha. In that case, how was Jagadamba created? No one knows this either. You know that Saraswati is the daughter of Brahma. She too is mouth-born. Only the Father is the Creator. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Mine is the one most elevated Teacher and none other. With this faith, study like the mother and father. Follow them fully in your efforts.
  2. Break the bondages of the body away from your intellect. Follow divine directions and remain constantly cheerful. Do God’s service.
Blessing: May you be a true holy swan who pleases the Lord with the cleanliness of your body, mind and heart.
Cleanliness means purity in your thoughts, words, deeds and relationships. Purity is symbolised by the white colour. You holy swans are also dressed in white. A clean heart means to be an embodiment of cleanliness. To be always flawless in your body, mind and heart means to be clean. The Lord is pleased with a clean mind and a clean heart. All their hopes and desires are fulfilled. The speciality of a swan is cleanliness and this is why Brahmin souls are called holy swans.
Slogan: Those who tolerate (sahan) everything at this time become emperors (Sehanshah).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 October 2018

To Read Murli 3 October 2018 :- Click Here
04-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देह के सम्बन्धों में बंधन है, इसलिए दु:ख है, देही के सम्बन्ध में रहो तो अथाह सुख मिल जायेगा, एक मात-पिता की याद रहेगी”
प्रश्नः- किस नशे में रहो तो माया पर जीत पाने की हिम्मत आ जायेगी?
उत्तर:- नशा रहे कि कल्प-कल्प हम बाप की याद से माया दुश्मन पर विजयी बन हीरे जैसा बने हैं। खुद खुदा हमारा मात-पिता है, इसी स्मृति वा नशे से हिम्मत आ जायेगी। हिम्मत रखने वाले बच्चे विजयी अवश्य बनते हैं और सदा गॉडली सर्विस पर ही तत्पर रहते हैं।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है……. 

ओम् शान्ति। देवी-देवताओं के पुजारी पारलौकिक मात-पिता को याद तो करते ही आये हैं और भक्त भी जानते हैं हमको भक्ति का फल देने मात-पिता को आना है जरूर। अब वह मात-पिता कौन है – यह तो बिचारे जानते ही नहीं। पुकारते हैं इससे सिद्ध होता है, उनका सम्बन्ध जरूर है। एक होता है लौकिक सम्बन्ध, दूसरा होता है पारलौकिक सम्बन्ध। लौकिक सम्बन्ध तो अनेक प्रकार के हैं। काका, चाचा, मामा आदि-आदि यह है लौकिक बंधन, इसलिए परमपिता परमात्मा को बुलाते हैं। यह तो बच्चों को मालूम है सतयुग में कोई बंधन नहीं। बाप को बुलाते हैं कि हम अभी बन्धन में हैं, आपके सम्बन्ध में आना चाहते हैं। भक्तों को याद है हम अनेक प्रकार के बन्धनों में हैं। देह का सिमरण होने कारण बन्धन बहुत हैं। देही के सम्बन्ध से एक ही मात-पिता याद रहता है। लौकिक और पारलौकिक को याद करने में रात-दिन का फ़र्क है। यह है जिस्मानी बंधन और वह है रूहानी सम्बन्ध। जिस्मानी सम्बन्ध में सतयुग में रहते हैं क्योंकि वहाँ सुख का सम्बन्ध कहेंगे। यहाँ फिर दु:ख का बंधन कहेंगे। उनको सम्बन्ध नहीं कहेंगे। इन बातों का आगे पता नहीं था। अब समझ गये हो, पुकारते जरूर थे – हे मात-पिता आओ। बाप तो जरूर सबको सुख ही देंगे। परन्तु बाप क्या सुख देते हैं – यह किसको पता नहीं है। अभी बाप से सम्बन्ध है, उनसे सदा सुख मिलता है। सुख को सम्बन्ध, दु:ख को बंधन कहेंगे। तो बच्चे मात-पिता को बुलाते हैं कि आकर के ऐसी मीठी-मीठी बातें सुनाओ। वो इनडायरेक्ट बुलाते हैं, तुम डायरेक्ट बुलाते हो। वह भी याद करते हैं – हे परमपिता परमात्मा। पिता है तो जरूर माता भी होनी चाहिए। नहीं तो बाप क्रियेट कैसे करे? शिवबाबा को बच्चे चिट्ठी कैसे लिखेंगे? ऐसे तो वह पढ़ न सके। शिवबाबा तो यहाँ बैठे हैं, इसलिए लिखते हैं शिवबाबा थ्रू ब्रह्मा। शिवबाबा जरूर कोई तो शरीर धारण करते हैं। गाते भी हैं – आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल, सतगुरू उसको कहा जाता है। वह है सर्व का सद्गति दाता। वह आकर इस शरीर में प्रवेश करते हैं। फिर इनको 84 जन्मों का राज़ बैठ बतलाते हैं। ब्रह्मा की रात, ब्रह्मा का दिन गाया हुआ है। पहले है परमपिता परमात्मा रचता। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचते हैं। बरोबर परमपिता, ब्रह्मा की रात को फिर ब्रह्मा का दिन बनाने आते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा का दिन तो प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियों का भी दिन हुआ। दिन कहा जाता है सतयुग-त्रेता को। रात, द्वापर-कलियुग को। अभी तुम बच्चे आये हो बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने। उनके लिये ही गाते हैं त्वमेव माताश्च पिता…… सखा रूप से हल्के रूप में आकर बहलते हैं। मुख्य हैं तीन सम्बन्ध – बाप, टीचर, सतगुरू। इनसे ही फ़ायदा है। बाकी काका, चाचा, मामा आदि सम्बन्धों की कोई बात नहीं। तो सम्पूर्ण बाप जो है वह आकर बच्चों को सम्पूर्ण बनाते हैं। 16 कला सम्पूर्ण तुम बन रहे हो। तुम अनुभवी हो। दूसरा कोई कैसे जाने। जब तक तुम बच्चों के संग में न आये तब तक वह कैसे समझ सके।

अब तुम जानते हो भक्ति मार्ग में भी बंधन है। याद तब करते हैं जबकि रावण रूपी 5 विकारों के बन्धन में हैं। बाप का नाम ही है लिबरेटर। अंग्रेजी अक्षर बहुत अच्छा है। लिबरेट करते हैं मनुष्यों को, लिबरेट किया जाता है दु:ख से, माया के बंधन से लिबरेट करने आते हैं। फिर गाइड भी है। गीता में भी है मच्छरों सदृश्य सबको वापिस ले जाते हैं तो जरूर विनाश भी होगा। यह तो गाया हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश कराते हैं। फिर जो स्थापना करते हैं उन द्वारा ही पालना भी होती है। अभी तुम तैयार हो रहे हो – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। देह के बन्धन को बुद्धि से तोड़ना है। सन्यासी लोग तो घरबार छोड़ भाग जाते हैं। तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते राजयोग सीखते हो। जनक का भी मिसाल है। वह फिर जाकर अनु जनक बना। बहुत बच्चे कहते हैं जनक मिसल हम अपनी राजधानी में रहते ज्ञान उठावें। अपने घर का तो हरेक राजा है ना। मालिक को राजा कहा जाता है। बाप है, उनकी स्त्री बच्चे आदि हैं – यह हो गई हद की रचना। क्रियेट भी करते हैं, पालना भी करते हैं। बाकी संहार नहीं कर सकते क्योंकि सृष्टि को तो वृद्धि को पाना ही है। सब पैदा ही करते रहते हैं। सिर्फ बेहद का बाप ही आते हैं जो नई रचना रचते हैं और पुरानी का विनाश कराते हैं। नई सृष्टि की स्थापना और पुरानी का विनाश सो तो ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का रचयिता परमपिता परमात्मा ही करेंगे। इन बातों को तुम बच्चे अच्छी रीति समझते हो। बातें तो बड़ी सहज है। नाम ही रखा हुआ है सहज योग वा याद। भारत का ज्ञान वा योग नामीग्रामी है।

बाप अभी तुम बच्चों को दैवी मत देते हैं जिससे तुम सदैव हर्षित रहेंगे। मात-पिता से ही नई सृष्टि की रचना होती है। यह तो सब जानते हैं हमको खुदा ने पैदा किया। अभी तुम समझते हो खुदा कैसे आकर नई सृष्टि रचते हैं। नई सृष्टि एडाप्ट करते हैं। मात-पिता तो जरूर हैं। बाप है फिर खुद ही इन द्वारा एडाप्ट करते हैं तो यह बड़ी माता हो गई। फिर पहले नम्बर में सरस्वती को एडाप्ट किया है। बाप ने इनमें प्रवेश किया है ना। यह मम्मा तो एडाप्टेड है। तुम्हारे लिए तो मात-पिता है। हमारे लिए पति भी हुआ तो पिता भी हुआ। प्रवेश कर अपनी वन्नी (युगल) भी मुझे बनाया है और बच्चा भी बनाया है। यह तो बड़ी रमणीक बातें हैं, जो सम्मुख सुनने की हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते हैं। अगर सभी समझते हों तो फिर समझावें। समझा नहीं सकते हैं तो गोया कुछ नहीं समझा। जड़ बीज से झाड़ कैसे पैदा होता है – यह तो कोई भी झट बतला सकता है। इस बेहद के झाड़ का ज्ञान जब तक बाप न आकर समझाये तब तक कोई समझ नहीं सकते। तुम जानते हो हम बाप से राजयोग सीखकर वर्सा ले रहे हैं। यह बुद्धि में होना चाहिए। यह डबल सम्बन्ध है। वहाँ तो सिंगल सम्बन्ध रहता है। पारलौकिक बाप को याद नहीं करते। यहाँ वह सब है बन्धन। तुम जानते हो हम इस समय उस बन्धन में भी हैं। पिता के सम्बन्ध में अब आये हैं, उस बन्धन से छूटने के लिए। आजकल तो कितनी मतें हो गई हैं। आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। पानी के लिए, धरनी के लिए भी लड़ते रहते हैं। यह हमारी हद में है, यह तुम्हारी हद में नहीं है। बिल्कुल ही हद में आ गये हैं। यह भूल गये हैं कि भारतवासी सतयुग में बेहद के मालिक थे। जो मालिक थे वही फिर भूल जाते हैं। भूलना भी जरूर है तब ही फिर बाप आकर समझाते हैं। इन बातों को अभी तुम जानते हो। वहाँ है बंधन। यहाँ मात-पिता से सम्बन्ध है। जानते हो हम श्रीमत पर चल अथाह सुख का वर्सा पा रहे हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको सुख का वर्सा देता हूँ। फिर श्राप कौन देते हैं? माया रावण। श्राप में है दु:ख, वर्से में तो सुख होता है। मनुष्य यह नहीं जानते कि मनुष्य को दु:ख का वर्सा कौन देते हैं? बाप सतयुग स्थापन करते हैं तो जरूर सुख का ही वर्सा देंगे। बाप को दु:ख का वर्सा देने वाला थोड़ेही कहेंगे। दु:ख तो दुश्मन देते हैं। परन्तु यह बातें कोई समझते नहीं। कहाँ की बात कहाँ ले गये हैं। कहते हैं लंका लूटी जाती है, सोना ले आते हैं। अब सोना कोई सीलॉन में नहीं रखा है। सोना तो मिलता है खानियों से। कहाँ नदियों से भी मिलता है।

बच्चे जान गये हैं यह अनादि वर्ल्ड ड्रामा है। तुम बच्चों की बुद्धि में नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार बैठा है। जो समझते नहीं, न समझा सकते तो वह क्या पद पायेंगे! पढ़े हुए के आगे भरी ढोयेंगे। राजा-रानी, प्रजा में फ़र्क तो है ना। जैसे यह मम्मा-बाबा जाकर ऊंच पद पाते हैं। तुम भी पुरुषार्थ कर इतना पढ़ो जो मम्मा-बाबा के तख्त पर बैठो, विजय माला का दाना बनो। टैम्पटेशन बहुत दी जाती है। राजयोग है ना। तुम राजयोग से राजाई तो प्राप्त कर लो। कम से कम पुरुषार्थ अनुसार प्रजा तो बनेंगे ही। हमेशा कहा जाता है फालो फादर। तुम बच्चे हो ना। वह फादर फिर यह फादर, यहाँ फिर मदर भी है। नम्बरवन फालो कर रही है। तुम हो भाई-बहन। बाप तो एक होना चाहिए। ओ गॉड फादर सब कहते हैं तो सब भाई-बहन हो गये। और जास्ती कोई सम्बन्ध नहीं। भाई-बहन, बस। और उन्हों का बाप, दादा, भाई, बहनें तो बहुत हैं। बाप एक है, दादा भी एक है। एक प्रजापिता ब्रह्मा है, उनसे फिर रचना रची जाती है। तुम बहन-भाई ही पद पाते हो नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बाकी जाकर अपने-अपने झाड़ में लटकेंगे। ठिकाना तो है ना। जहाँ से फिर नम्बरवार आते हैं। यहाँ है जीवनबंध। आत्मायें वहाँ से पहले-पहले सुख में आती हैं इसलिए पहले जीवनमुक्त होती हैं। पहले-पहले होती है स्वर्ग में भारतवासियों की जीवनमुक्ति। कितनी अच्छी-अच्छी बातें बाप सुनाते हैं। मेरा तो एक सर्वोत्तम टीचर दूसरा न कोई। कन्यायें कहेंगी मेरा तो एक शिवबाबा….. कन्याओं को इसमें पूरा अटेन्शन देना है। इस गवर्मेन्ट के हो गये तो फिर ईश्वरीय सर्विस में लग जाना है। फिर आसुरी सर्विस कैसे कर सकती? हर एक के कर्मबन्धन अनुसार राय दी जाती है। देखा जाता है, निकल सकती हैं वा नहीं। अच्छे शुरूड बुद्धि हैं तो फिर ऑन गॉडली सर्विस ओनली हो जाती है। तुम बच्चों की है गॉडली सर्विस, निर्विकारी बनाने की सर्विस। हम सेना हैं। गॉड हमको माया से युद्ध करना सिखलाते हैं। रावण सबसे जास्ती पुराना दुश्मन है। यह सिर्फ तुम ही जानते हो। तुम रावण पर विजय पाकर हीरे जैसा बनेंगे। बच्चों को वह हिम्मत, वह नशा रहना चाहिए। मनुष्य तो लड़ते रहते हैं, सब जगह देखो झगड़ा ही झगड़ा है। हमारा कोई से झगड़ा नहीं। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। माया का वार नहीं होगा। फिर वर्से को याद करो। यह भी किसको सुनाना पड़े ना। बाप का परिचय दे उनसे बुद्धियोग लगाना है। वह हमारा मात-पिता है। शिवबाबा है तो बताओ तुम्हारी माता कौनसी है? यह भी कितनी गुह्य बातें हैं। तुम पूछते हो आत्मा का बाप कौन है? वह भी लिख देंगे परमात्मा है। अच्छा, माता कहाँ है? माता बिगर बच्चों को रचेंगे कैसे? तो फिर जगत अम्बा तरफ चले जायेंगे। अच्छा, जगत अम्बा को कैसे रचा? यह भी किसको पता नहीं है। तुम जानते हो ब्रह्मा की बेटी सरस्वती है। वह भी मुख वंशावली है। रचता तो बाप ही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मेरा तो एक सर्वोत्तम टीचर दूसरा न कोई – इसी निश्चय से मात-पिता समान पढ़ाई पढ़नी है। पुरुषार्थ में पूरा फालो करना है।

2) देह के बंधन को बुद्धि से तोड़ना है। दैवी मत पर चल सदा हर्षित रहना है। ईश्वरीय सेवा करनी है।

वरदान:- तन मन और दिल की स्वच्छता द्वारा साहेब को राज़ी करने वाले सच्चे होलीहंस भव
स्वच्छता अर्थात् मन-वचन-कर्म, सम्बन्ध सबमें पवित्रता। पवित्रता की निशानी सफेद रंग दिखाते हैं। आप होलीहंस भी सफेद वस्त्रधारी, साफ दिल अर्थात् स्वच्छता स्वरूप हो। तन, मन और दिल से सदा बेदाग अर्थात् स्वच्छ हो। साफ मन वा साफ दिल पर साहेब राज़ी होता है। उनकी सर्व मुरादें अर्थात् कामनायें पूरी होती हैं। हंस की विशेषता स्वच्छता है इसलिए ब्राह्मण आत्माओं को होलीहंस कहा जाता है।
स्लोगन:- जो इस समय सब कुछ सहन करते हैं वही शहनशाह बनते हैं।
Font Resize