daily murli 4 February

TODAY MURLI 4 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

04/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, it is now the time of settlement. Ravan has buried everyone in the graveyard. The Father has come to shower nectar and take you back with Him.
Question: Why is Shiv Baba called the Innocent Lord of the Treasure Store?
Answer: Because it is when Shiva, the Innocent Lord, comes that He benefits those with no virtues, those with stone intellects and the hunchbacks and makes them into the masters of the world. He comes into the impure world and enters an impure body. He is so innocent. The direction of the Innocent Lord is: Sweet children, drink nectar and leave the poison of vices.
Song: The Resident of the faraway land has come into the foreign land.

Om shanti. You spiritual children heard the song, that is, you souls heard the song through the physical sense organs of your ears. The Traveller comes from the faraway land. You too are travellers. All human souls here are travellers. Souls do not have a home. Souls are incorporeal. Incorporeal souls live in the incorporeal world. That is called the home, the country or world of incorporeal souls. This is called the country of human souls. That is the country of souls. Then, when souls come here and enter bodies, they become corporeal from incorporeal. It is not that souls don’t have a form; they definitely have a form as well as a name. Such a tiny soul plays such a huge part through a body. Each soul has such a vast record of the part within himself. Once a record has been recorded, it repeats in the same way as many times as you want. The soul in this body also has a record which has a part of the 84 births recorded within him. Just as the Father is incorporeal, so souls too are incorporeal. In some parts of the scriptures, it is written that souls are beyond name and form. However, there is nothing that is beyond name and form. The sky is space; it still has a name: sky. There is nothing without a name. Human beings say: Supreme Father, Supreme Soul. All souls live in the faraway land. This corporeal land is ruled by two. There are the kingdoms of Rama and Ravan: it is the kingdom of Rama for half a cycle and the kingdom of Ravan for the other half. The Father wouldn’t create a kingdom of sorrow for His children, would He? They say that it is God who causes sorrow and happiness. The Father explains: I never cause sorrow for children. My name is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. This mistake has been made by human beings. God never causes sorrow. At this time it is the land of sorrow. For half a cycle, in the kingdom of Ravan, there is only sorrow; there isn’t a trace of happiness. However, there is no sorrow in the land of happiness. The Father creates heaven. You are now at the confluence age. No one would call this the new world. The name of the new world is the golden age. When it becomes old, it is then called the iron age. A new thing looks good and an old thing looks bad. Old things are then destroyed. Human beings consider poison to be happiness. It is remembered, “Why should we renounce nectar and drink poison instead?” It is then said, “Everyone receives benefit due to You. When You come, whatever You do will bring benefit.” Otherwise, human beings will continue to perform bad acts in the kingdom of Ravan. You children now know that 500 years have passed since Guru Nanak came. When will he come again? They say that his soul merged into the light. Therefore, how could he return? You tell them that Guru Nanak will come again after 4500 years. The history and geography of the whole world continues to turn around in your intellects. At this time, everyone is tamopradhan. This is called the time of settlement. It is as though all human beings are almost dead. The light of every soul is extinguished. The Father comes to awaken everyone. The Father showers nectar and wakes up the children who have been burnt by sitting on the pyre of lust and He will then take them back with Him. Maya, Ravan, has made you sit on the pyre of lust and buried you in the graveyard. Everyone is asleep. The Father is now making you drink the nectar of knowledge. There is a lot of difference between this nectar of knowledge and that water. When it is an important day for Sikhs, they clean the lake and remove the mud with a lot of pomp and show. That is why it is called Amritsar – the Lake of Nectar. Guru Nanak also praised the Father; he said, “He is the only One who always speaks the truth.” There is the story of becoming the true Narayan, is there not? Human beings have been listening to so many stories on the path of devotion: the story of immortality, the story of the third eye. They say that Shankar told a story to Parvati. He is a resident of the subtle region. Which story would he relate there? The Father sits here and explains all of these aspects. In fact, I have come to tell you the story of immortality and to take you to the land of immortality. I take you from the land of death to the land of immortality. What mistake would Parvati have made in the subtle region that she had to be told the story of immortality? They have written a lot of stories in the scriptures. The story of becoming true Narayan is not a true story. You must have heard the story of becoming true Narayan several times. Does that make anyone a true Narayan? Instead, they continue to descend. You now understand that we are becoming Narayan from a man and Lakshmi from a woman. This is the true story of becoming true Narayan in order to go to the land of immortality; it is the true story of the third eye. Each of you souls has received a third eye of knowledge. The Father explains: You were beautiful and worthy of worship. While taking 84 births, you became worshippers. That is why it is remembered: You are the ones who are worthy of worship and you are the ones who become worshippers. The Father says: I am always worthy of worship. I come and change you from worshippers to being worthy of worship. This is the impure world. In the golden age, human beings are pure and worthy of worship. At present, all human beings are impure worshippers. Sannyasis and holy men have been singing, “O Sita’s Rama, the Purifier!” These words are right. All are Sitas, brides. They say, “O Rama, come and purify us!” All devotees, souls, call out, “O Rama!” When Gandhi used to finish reading the Gita, he would say, “O Purifier Sita Ram!” You now understand that it was not Krishna who spoke the Gita. Baba says: Keep remembering the opinion that God is not omnipresent. Shiva, and not Krishna, is the God of the Gita. First, ask who should be called the God of the Gita. Who should be called God: the incorporeal One or the corporeal one? Krishna is corporeal. Shiva is incorporeal. He only takes this body on loan. He doesn’t take birth through a mother’s womb. Shiva does not have a body of His own. It is here, in the human world, that there are physical bodies. The Father comes and tells the true story of becoming the true Narayan. The Father is praised as the Purifier, the Bestower of Salvation for All, the Liberator of All, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Achcha, where does happiness exist? It cannot be here. You receive happiness in the next birth when heaven is established and the old world is destroyed. Achcha, what are you liberated from? From the sorrow of Ravan. This is the land of sorrow. Achcha, He also becomes the Guide. These bodies are destroyed here, and souls are taken back. The Bridegroom goes first followed by His brides. He is the immortal, beautiful Bridegroom. He liberates everyone from sorrow, makes them pure and takes them back home with Him. In a wedding procession, it is the husband who walks in front followed by the bride, his wife, and then there is the rest of the procession. Your rosary is now like this. At the top is Shiv Baba who is represented by the tassel and that is saluted. Then, there is the dual-bead of Brahma and Saraswati and there are then you beads, who become Baba’s helpers. It is by having remembrance of the flower (tassel), Shiv Baba, that you become part of the sun dynasty and part of the rosary of Vishnu. It is Saraswati and Brahma who become Lakshmi and Narayan. Lakshmi and Narayan become Saraswati and Brahma. It is because they make effort that they become worthy of worship. No one understands what a rosary represents. They just continue to turn a rosary. There is even a rosary of 16,108. That is kept in a big temple where everyone turns the rosary from a different place. When Baba used to go to the Lakshmi and Narayan Temple in Bombay, he would turn the rosary and recite Rama’s name, because it is the one Father (Rama) who is the tassel (flower). The flower is called Rama. People bow their heads to the rosary. They have no knowledge. Priests (Christian) also turn a rosary in their hand. Ask them whose rosary they are turning. They do not know. They say that they are turning it in remembrance of Christ. They do not know where the Christ soul is. You understand that the Christ soul is now tamopradhan. You too were tamopradhan beggars. You are now becoming princes from beggars. Bharat was a prince; it is now a beggar. It will now become a prince once again. The Father makes you this. You are becoming princes from human beings. There used to be a “Prince College where princes and princesses would go to study. By studying here, you become princes and princesses in heaven for 21 births. This Shri Krishna is a prince. The story of his 84 births has been written. What do human beings know? Only you understand these aspects. God speaks. He is the Father of all. You are listening to God, the Father, who is establishing heaven. That is called the land of truth. This is the land of falsehood. It is the Father who establishes the land of truth. Ravan establishes the land of falsehood. They make an image of Ravan, but they don’t understand anything. No one actually knows who the Ravan, whom they kill and who comes alive again, is. It is really the five vices of men and the five vices of women that are known as Ravan. They kill him. After killing Ravan, they steal gold (take yellow parasitic flowers from trees). You children understand that this is the jungle of thorns. In Bombay there is a temple to the Lord of Thorns (Babulnath). The Father comes and changes thorns into flowers. It is called the forest of thorns because everyone keeps pricking one another with the vice of lust. The golden age is called the Garden of Allah. Those same flowers then become thorns. The thorns once again become flowers. You are now gaining victory over the five vices. This kingdom of Ravan definitely has to be destroyed. Ultimately, the main war will take place. The real Dashera is to take place. When Ravan’s kingdom is destroyed, you will loot Lanka. You will have palaces of gold. You are now gaining victory over Ravan and becoming the masters of heaven. Baba is called Shiva, the Innocent Lord of the Treasure Store, because He gives you the whole kingdom. The Father makes those without virtues, those with stone intellects and hunchbacks, everyone, into the masters of the world. He is so innocent. He comes into the impure world and enters an impure body. Those who are not worthy of going to heaven will not stop drinking poison. The Father says: Children, now become pure for this last birth of yours. You have been experiencing sorrow due to these vices from their beginning, through the middle, to the end. Can you not stop drinking poison for this one birth of yours? I am giving you nectar and making you immortal. In spite of that, you are not becoming pure. You can’t remain without poison, cigarettes and alcohol. I, the unlimited Father, am telling you: Children, become pure for this one birth and I will make you into the masters of heaven. It is only the Father’s task to destroy the old world and establish the new world. The Father has come to liberate the whole world from sorrow and take everyone to the land of peace and the land of happiness. All religions are now to be destroyed. The original eternal deity religion is being established again. Even in the Granth (Sikh scripture), they call the Supreme Father, the Supreme Soul, the Immortal Image. The Father is the Lord of Death, the Death of Death. That death will take one or two. It is because I take all souls back that I am called the Lord of Death. The Father comes and makes you children so wise. Achcha

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce drinking poison for this last birth. Drink nectar and enable others to drink nectar as well! You have to become pure. Do the service of changing thorns into flowers.
  2. In order to become a bead of the rosary around Vishnu’s neck, stay in remembrance of the Father. Co-operate fully and become a remover of sorrow like the Father.
Blessing: May you be constantly powerful by keeping the shield of the drama in front of you and eating the nourishment of happiness.
The food of happiness makes souls powerful. It is said: There is no nourishment like that of happiness. For this, use the shield of the drama very well. If you are constantly aware of the drama, you can never wilt and your happiness can never disappear because this drama is benevolent. Therefore, any scene that is non-benevolent also has benefit merged in it. By understanding this, you will remain constantly happy.
Slogan: Those who remain distant from the dust of thinking of and looking at others are true invaluable diamonds.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

04-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह कयामत का समय है, रावण ने सबको कब्रदाखिल कर दिया है, बाप आये हैं अमृत वर्षा कर साथ ले जाने”
प्रश्नः- शिवबाबा को भोला भण्डारी भी कहा जाता है – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि शिव भोलानाथ जब आते हैं तो गणिकाओं, अहिल्याओं, कुब्जाओं का भी कल्याण कर उन्हें विश्व का मालिक बना देते हैं। आते भी देखो पतित दुनिया और पतित शरीर में हैं तो भोला हुआ ना। भोले बाप का डायरेक्शन है – मीठे बच्चे, अब अमृत पियो, विकारों रूपी विष को छोड़ दो।
गीत:- दूरदेश का रहने वाला……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों ने गीत सुना अर्थात् रूहों ने इस शरीर के कान कर्मेन्द्रियों द्वारा गीत सुना। दूर देश के मुसाफिर आते हैं, तुम भी मुसाफिर हो ना। जो भी मनुष्य आत्मायें हैं वह सब मुसाफिर हैं। आत्माओं का कोई भी घर नहीं है। आत्मा है निराकार। निराकारी दुनिया में रहने वाली निराकारी आत्मायें हैं। उसको कहा जाता है निराकारी आत्माओं का घर, देश वा लोक, इनको जीव आत्माओं का देश कहा जाता है। वह है आत्माओं का देश फिर आत्मायें यहाँ आकर शरीर में जब प्रवेश करती हैं तो निराकार से साकार बन जाती हैं। ऐसे नहीं कि आत्मा का कोई रूप नहीं है। रूप भी जरूर है, नाम भी है। इतनी छोटी आत्मा कितना पार्ट बजाती है इस शरीर द्वारा। हर एक आत्मा में पार्ट बजाने का कितना रिकार्ड भरा हुआ है। रिकार्ड एक बार भर जाता है फिर कितना बारी भी रिपीट करो, वही चलेगा। वैसे आत्मा भी इस शरीर के अन्दर रिकार्ड है, जिसमें 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। जैसे बाप निराकार है, वैसे आत्मा भी निराकार है, कहाँ-कहाँ शास्त्रों में लिख दिया है वह नाम रूप से न्यारा है, परन्तु नाम रूप से न्यारी कोई वस्तु होती नहीं। आकाश भी पोलार है। नाम तो है ना “आकाश”। बिगर नाम कोई चीज़ होती नहीं। मनुष्य कहते हैं परमपिता परमात्मा। अब दूर देश में तो सब आत्मायें रहती हैं। यह साकार देश है, इसमें भी दो का राज्य चलता है – राम राज्य और रावण राज्य। आधाकल्प है राम राज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। बाप कभी बच्चों के लिए दु:ख का राज्य थोड़ेही बनायेंगे। कहते हैं ईश्वर ही दु:ख-सुख देते हैं। बाप समझाते हैं मैं कभी बच्चों को दु:ख नहीं देता हूँ। मेरा नाम ही है दु:ख हर्ता सुख कर्ता। यह मनुष्यों की भूल है। ईश्वर कभी दु:ख नहीं देंगे। इस समय है ही दु:खधाम। आधाकल्प रावण राज्य में दु:ख ही दु:ख मिलता है। सुख की रत्ती नहीं। सुखधाम में फिर दु:ख होता ही नहीं। बाप स्वर्ग की रचना रचते हैं। अभी तुम हो संगम पर। इनको नई दुनिया तो कोई भी नहीं कहेंगे। नई दुनिया का नाम ही है सतयुग। वही फिर पुरानी होती है, तो उनको कलियुग कहा जाता है। नई चीज़ अच्छी और पुरानी चीज़ खराब दिखाई देती है तो पुरानी चीज़ को खलास किया जाता है। मनुष्य विष को ही सुख समझते हैं। गाया भी जाता है – अमृत छोड़ विष काहे को खाए। फिर कहते तेरे भाने सर्व का भला। आप जो आकर करेंगे उससे भला ही होगा। नहीं तो रावणराज्य में मनुष्य बुरा काम ही करेंगे। यह तो अब बच्चों को पता पड़ा है कि गुरूनानक को 500 वर्ष हुए फिर कब आयेंगे? तो कहेंगे उनकी आत्मा तो ज्योति ज्योत समा गई। आयेंगे फिर कैसे। तुम कहेंगे आज से 4500 वर्ष बाद फिर गुरूनानक आयेंगे। तुम्हारी बुद्धि में सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी चक्र लगाती रहती है। इस समय सब तमोप्रधान हैं, इनको कयामत का समय कहा जाता है। सभी मनुष्य जैसेकि मरे पड़े हैं। सबकी ज्योति उझाई हुई है। बाप आते हैं सबको जगाने। बच्चे जो काम चिता पर बैठ भस्म हो गये हैं, उन्हों को अमृत वर्षा से जगाए साथ ले जायेंगे। माया रावण ने काम चिता पर बिठाए कब्रदाखिल कर दिया है। सभी सो गये हैं। अब बाप ज्ञान अमृत पिलाते हैं। अब ज्ञान अमृत कहाँ और वह पानी कहाँ। सिक्ख लोगों का बड़ा दिन होता है तो बड़े धूमधाम से तालाब को साफ करते हैं, मिट्टी निकालते हैं इसलिए नाम ही रखा है – अमृतसर। अमृत का तलाब। गुरूनानक ने भी बाप की महिमा की है। खुद कहते एकोअंकार, सत नाम…… वह सदैव सच बोलने वाला है। सत्यनारायण की कथा है ना। मनुष्य भक्तिमार्ग में कितनी कथायें सुनते आये हैं। अमरकथा, तीजरी की कथा…… कहते हैं शंकर ने पार्वती को कथा सुनाई। वह तो सूक्ष्मवतन में रहने वाले, वहाँ फिर कथा कौनसी सुनाई? यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं कि वास्तव में तुमको अमरकथा सुनाए अमरलोक में ले जाने मैं आया हूँ। मृत्युलोक से अमरलोक में ले जाता हूँ। बाकी सूक्ष्मवतन में पार्वती ने क्या दोष किया जो उनको अमरकथा सुनायेंगे। शास्त्रों में तो अनेक कथायें लिख दी हैं। सत्य नारायण की सच्ची कथा तो है नहीं। तुमने कितनी सत्य नारायण की कथायें सुनी होंगी। फिर सत्य नारायण कोई बनते हैं क्या और ही गिरते जाते हैं। अभी तुम समझते हो हम नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनते हैं। यह है अमरलोक में जाने के लिए सच्ची सत्य नारायण की कथा, तीजरी की कथा। तुम आत्माओं को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। बाप समझाते हैं तुम ही गुल-गुल पूज्य थे फिर 84 जन्मों के बाद तुम ही पुजारी बने हो इसलिए गाया हुआ है – आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। बाप कहते हैं – मैं तो सदैव पूज्य हूँ। तुमको आकर पुजारी से पूज्य बनाता हूँ। यह है पतित दुनिया। सतयुग में पूज्य पावन मनुष्य, इस समय हैं पुजारी पतित मनुष्य। साधू-सन्त गाते रहते हैं पतित-पावन सीताराम। यह अक्षर हैं राइट…… सब सीतायें ब्राइड्स हैं। कहते हैं हे राम आकर हमको पावन बनाओ। सब भक्तियां पुकारती हैं, आत्मा पुकारती है – हे राम। गांधी जी भी गीता सुनाकर पूरी करते थे तो कहते थे – हे पतित-पावन सीताराम। अभी तुम जानते हो गीता कोई कृष्ण ने नहीं सुनाई है। बाबा कहते हैं – ओपीनियन लेते रहो कि ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है। गीता का भगवान शिव है, न कि कृष्ण। पहले तो पूछो गीता का भगवान किसको कहा जाता है। भगवान निराकार को कहेंगे वा साकार को? कृष्ण तो है साकार। शिव है निराकार। वह सिर्फ इस तन का लोन लेते हैं। बाकी माता के गर्भ से जन्म नहीं लेते हैं। शिव को शरीर है नहीं। यहाँ इस मनुष्य लोक में स्थूल शरीर है। बाप आकर सच्ची सत्य नारायण की कथा सुनाते हैं। बाप की महिमा है पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता, सर्व का लिबरेटर, दु:ख हर्ता सुख कर्ता। अच्छा, सुख कहाँ होता है? यहाँ नहीं हो सकता। सुख मिलेगा दूसरे जन्म में, जब पुरानी दुनिया खत्म हो और स्वर्ग की स्थापना हो जायेगी। अच्छा, लिबरेट किससे करते हैं? रावण के दु:ख से। यह तो दु:खधाम है ना। अच्छा फिर गाइड भी बनते हैं। यह शरीर तो यहाँ खत्म हो जाते हैं। बाकी आत्माओं को ले जाते हैं। पहले साजन फिर सजनी जाती है। वह है अविनाशी सलोना साजन। सबको दु:ख से छुड़ाए पवित्र बनाए घर ले जाते हैं। शादी कर जब आते हैं तो पहले होता है घोट (पति)। पिछाड़ी में ब्राइड (पत्नी) रहती है फिर बरात होती है। अब तुम्हारी माला भी ऐसी है। ऊपर में शिवबाबा फूल, उसे नमस्कार करेंगे। फिर युगल दाना ब्रह्मा-सरस्वती। फिर हो तुम, जो बाबा के मददगार बनते हो। फूल शिवबाबा की याद से ही सूर्यवंशी, विष्णु की माला बने हो। ब्रह्मा-सरस्वती सो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण सो ब्रह्मा-सरस्वती बनते हैं। इन्होंने मेहनत की है तब पूजे जाते हैं। कोई को पता नहीं है माला क्या चीज़ है। ऐसे ही माला फेरते रहते हैं। 16108 की भी माला होती है। बड़े-बड़े मन्दिरों में रखी होती है फिर कोई कहाँ से, कोई कहाँ से खींचेंगे। बाबा बाम्बे में लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाते थे, माला जाकर फेरते थे, राम-राम जपते थे क्योंकि फूल एक ही बाप है ना। फूल को ही राम-राम कहते हैं। फिर सारी माला पर माथा टेकते हैं। ज्ञान कुछ भी नहीं। पादरी भी हाथ में माला फेरते रहते हैं। पूछो किसकी माला फेरते हो? उनको तो पता नहीं है। कह देंगे क्राइस्ट की याद में फेरते हैं। उनको यह पता नहीं है कि क्राइस्ट की खुद आत्मा कहाँ है। तुम जानते हो क्राइस्ट की आत्मा अब तमोप्रधान है। तुम भी तमोप्रधान बेगर थे। अब बेगर टू प्रिन्स बनते हो। भारत प्रिन्स था, अभी बेगर है फिर प्रिन्स बनते हैं। बनाने वाला है बाप। तुम मनुष्य से प्रिन्स बनते हो। एक प्रिन्स कॉलेज भी था, जहाँ प्रिन्स-प्रिन्सेज जाकर पढ़ते थे।

तुम यहाँ पढ़कर 21 जन्म लिए स्वर्ग में प्रिन्स-प्रिन्सेज बनते हो। यह श्रीकृष्ण प्रिन्स है ना। उनके 84 जन्मों की कहानी लिखी हुई है। मनुष्य क्या जानें। यह बातें सिर्फ तुम जानते हो। “भगवानुवाच” वह सबका फादर है। तुम गॉड फादर से सुनते हो, जो स्वर्ग की स्थापना करते हैं। उसे कहा ही जाता है सचखण्ड। यह है झूठ खण्ड। सचखण्ड तो बाप स्थापन करेंगे। झूठ खण्ड रावण स्थापन करते हैं। रावण का रूप बनाते हैं, अर्थ कुछ नहीं समझते हैं, किसको भी पता नहीं है कि आखरीन भी रावण है कौन, जिसको मारते हैं फिर जिंदा हो जाता है। वास्तव में 5 विकार स्त्री के, 5 विकार पुरूष के….. इनको कहा जाता है रावण। उनको मारते हैं। रावण को मारकर फिर सोना लूटते हैं।

तुम बच्चे जानते हो – यह है कांटों का जंगल। बाम्बे में बबुलनाथ का भी मन्दिर है। बाप आकर कांटों को फूल बनाते हैं। सब एक-दो को कांटा लगाते हैं अर्थात् काम कटारी चलाते रहते हैं, इसलिए इनको कांटों का जंगल कहा जाता है। सतयुग को गॉर्डन ऑफ अल्लाह कहा जाता है, वही फ्लावर्स कांटे बनते हैं फिर कांटों से फूल बनते हैं। अभी तुम 5 विकारों पर जीत पाते हो। इस रावण राज्य का विनाश तो होना ही है। आखरीन बड़ी लड़ाई भी होगी। सच्चा-सच्चा दशहरा भी होना है। रावणराज्य ही खलास हो जायेगा फिर तुम लंका लूटेंगे। तुमको सोने के महल मिल जायेंगे। अभी तुम रावण पर जीत प्राप्त कर स्वर्ग के मालिक बनते हो। बाबा सारे विश्व का राज्य-भाग्य देते हैं इसलिए इनको शिव भोला भण्डारी कहते हैं। गणिकायें, अहिल्यायें, कुब्जायें.. सबको बाप विश्व का मालिक बनाते हैं। कितना भोला है। आते भी हैं पतित दुनिया, पतित शरीर में। बाकी जो स्वर्ग के लायक नहीं हैं, वह विष पीना छोड़ते ही नहीं। बाप कहते हैं – बच्चे, अभी यह अन्तिम जन्म पावन बनो। यह विकार तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:खी बनाते हैं। क्या तुम इस एक जन्म के लिए विष पीना नहीं छोड़ सकते हो? मैं तुमको अमृत पिलाकर अमर बनाता हूँ फिर भी तुम पवित्र नहीं बनते हो। विष बिगर, सिगरेट शराब बिगर रह नहीं सकते हो। मैं बेहद का बाप तुमको कहता हूँ – बच्चे, इस एक जन्म के लिए पावन बनो तो तुमको स्वर्ग का मालिक बनाऊंगा। पुरानी दुनिया का विनाश और नई दुनिया की स्थापना करना – यह बाप का ही काम है। बाप आया हुआ है सारी दुनिया को दु:ख से लिबरेट कर सुखधाम-शान्तिधाम में ले जाने। अभी सब धर्म विनाश हो जायेंगे। एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की फिर से स्थापना होती है। ग्रंथ में भी परमपिता परमात्मा को अकालमूर्त कहते हैं। बाप है महाकाल, कालों का काल। वह काल तो एक-दो को ले जायेंगे। मैं तो सभी आत्माओं को ले जाऊंगा इसलिए महाकाल कहते हैं। बाप आकर तुम बच्चों को कितना समझदार बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अन्तिम जन्म में विष को त्याग अमृत पीना और पिलाना है। पावन बनना है। कांटों को फूल बनाने की सेवा करनी है।

2) विष्णु के गले की माला का दाना बनने के लिए बाप की याद में रहना है, पूरा-पूरा मददगार बन बाप समान दु:ख हर्ता बनना है।

वरदान:- ड्रामा की ढाल को सामने रख खुशी की खुराक खाने वाले सदा शक्तिशाली भव
खुशी रूपी भोजन आत्मा को शक्तिशाली बना देता है, कहते भी हैं – खुशी जैसी खुराक नहीं। इसके लिए ड्रामा की ढाल को अच्छी तरह से कार्य में लगाओ। यदि सदा ड्रामा की स्मृति रहे तो कभी भी मुरझा नहीं सकते, खुशी गायब हो नहीं सकती क्योंकि यह ड्रामा कल्याणकारी है इसलिए अकल्याणकारी दृश्य में भी कल्याण समाया हुआ है, ऐसा समझ सदा खुश रहेंगे।
स्लोगन:- परचिंतन और परदर्शन की धूल से दूर रहने वाले ही सच्चे अमूल्य हीरे हैं।

TODAY MURLI 4 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 February 2020

04/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget everything you have studied up till now. To die alive means to forget everything. Let nothing of the past be remembered.
Question: What are the signs of those who haven’t completely died alive?
Answer: They continue to argue even with the Father. They continue to give examples from the scriptures. Those who have completely died say: Only the things that Baba says are the truth. For half a cycle, the things we were listening to were false. This is why we mustn’t let those things emerge from our mouths. The Father says: Hear no evil!
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. It has been explained to you children that when you make people sit down in silence, for which the word “neshtha” (specially conducted meditation) has been given, you are made to conduct this drill. The Father now sits here and explains to you spiritual children that those who have died alive say, “We have died a living death.” For example, when a human being dies, he forgets everything; only the sanskars remain. You now belong to the Father; you are also dead to the world. The Father says: You had the sanskars of performing devotion. Those sanskars are now changing. So, you die alive. When human beings die, they forget everything they have studied. Then they have to study again in the next birth. The Father says: Forget whatever you have studied. You have become the Father’s, have you not? I tell you new things. So, now forget the Vedas, the scriptures, the Granth, chanting, doing intense tapasya, etc; forget all of those things. This is why it is said: Hear no evil, see no evil! This applies to you children. Some who have studied many scriptures etc. and have not died completely will continue to argue uselessly. Once dead, you would never argue. You would say: Only what the Father says is the truth. Why should anything else emerge from our lips? The Father says: Don’t bring this to your lips at all. Hear no evil! The Father has given the direction: Don’t listen to anything! Tell them: We are now the children of the Ocean of Knowledge. Why then should we remember devotion? We only remember the one God. The Father has said: Forget the path of devotion. I explain an easy aspect: If you remember Me, the Seed, the whole tree will enter your intellects. The main thing you have is the Gita. Only in the Gita is there the explanation of God. These are now new things. One always pays more attention to new things. This is a very simple matter. The most important thing is to have remembrance. You have to be told repeatedly: Manmanabhav! Remember the Father! This is a very deep matter. Only in this do obstacles arise. There are many children who don’t remember Baba for even two minutes. Even after belonging to the Father, they don’t perform good actions and they don’t even have remembrance; they continue to perform sinful actions. This just doesn’t sit in their intellects. Therefore, it would be said that this is disregarding the Father’s directions. They aren’t able to study, and so they don’t receive that strength. You receive strength from a physical study. Study is a source of income. That is for the livelihood of the body and that too is for a short time. Some die whilst they are studying and so they wouldn’t take that education with them. They have to take another birth and start studying from the beginning again. Here, however, whatever you study, you will take that with you because you receive the fruit in the next birth. All the rest is definitely the path of devotion. No one knows what types of things exist there. The spiritual Father sits here and gives knowledge to you spirits. Only once does the Father, the Supreme Spirit, come and give knowledge to you spirits, through which you become the masters of the world. Heaven does not exist on the path of devotion. You have now become the Lord’s. Maya too makes children orphans, ones without parents; they start fighting amongst themselves over trivial things. If they don’t stay in remembrance of the Father, they would be orphans. If you become an orphan, you would definitely perform one sinful action or another. The Father says: Once you belong to Me, don’t defame Me! Move forward with a lot of love. Don’t speak wrong things. The Father also has to uplift Ahaliyas, hunchbacks and native women. It is written that Rama (God) ate the native woman’s berries. Now, would He really eat her food, just like that? When she becomes a Brahmin from a native, why should He not eat? This is why Brahma Bhojan is praised. Shiv Baba wouldn’t eat anyway. He is Abhogta (the One beyond any effect of experience). However, this chariot eats. You children don’t need to argue with anyone. You should always remain on the safe side. Just speak a couple of words: Shiv Baba says. Only Shiv Baba is called Rudra. The flames of destruction emerged from Rudra’s sacrificial fire of knowledge, so He is God Rudra. Krishna wouldn’t be called Rudra. Krishna doesn’t make destruction happen. Only the Father has creation, sustenance and destruction carried out. He doesn’t do anything Himself. Otherwise, He would be blamed. He is Karankaravanhar. The Father says: I don’t tell anyone to destroy everything; it is all fixed in the drama. Does Shankar do anything? Nothing at all! There is just the memorial of destruction taking place through Shankar. They bring about destruction themselves. This drama, which is preordained, is explained. Everyone has forgotten the Father, the Creator. They say: “God, the Father, is the Creator”, but they don’t know Him at all. They believe that He creates the world. The Father says: I don’t create it; I change it. I change the iron age into the golden age. I come at the confluence, of which it is remembered, “Supreme auspicious age. God is the Benefactor; He brings benefit to all, but how and what benefit He brings is not known. In English, they call Him “The Liberator and the Guide”, but they don’t understand the meaning of that. It is said: After devotion you will find God; you will receive salvation. Human beings cannot grant salvation to all. Otherwise, why would the Supreme Soul be praised as the Purifier, the Bestower of Salvation for All? None of them knows the Father; they are orphans. Their intellects have no love for the Father. Now, what can the Father do? He Himself is the Lord. His birthday, Shiv Jayanti, is celebrated in Bharat. The Father says: I come to give the fruit to the devotees. I only come in Bharat. In order to come, I would definitely need a body. It is not as though anything will happen through inspiration. I enter this one and give you knowledge through this one’s mouth. It is not a matter of a cow’s mouth. Here, it is a matter of this mouth. A human mouth is needed, not that of an animal. Their intellects do not even work this much. On the other hand, they show Bhagirath (Lucky Chariot). No one knows anything at all about when He comes or how He comes. So, the Father sits here and explains to you children: You have died. Therefore, forget the path of devotion completely. God Shiva speaks: Remember Me! Then your sins will be absolved. Only I am the Purifier. When you become pure, I will take everyone back. Give the message to every home. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved; you will become pure. Destruction is just ahead. You call out: O Purifier come! Purify the impure! Establish the kingdom of Rama and liberate us from the kingdom of Ravan! Each one of you makes effort for yourself. The Father says: I come and liberate everyone. Everyone is in the jail of Ravan, the five vices. I bring salvation for all. I am called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The kingdom of Rama would be in the new world. The intellects of you Pandavas are now loving. The intellects of some become loving straightaway. The love of some is connected slowly. Some just say: We surrender everything to the Father. No one but the One is left. The Support of All is definitely the one God. This is the simplest of all simple things. Remember the Father and remember the cycle and you will become the kings and queens who rule the globe (Chakravarti). This is the school for becoming the masters of heaven. This is why the name King Chakravarti has been given. By knowing the cycle, you become Chakravrati. Only the Father explains this. Otherwise, you are not to argue about anything. Just say: Forget about all the things of the path of devotion. The Father says: Only remember Me. This is the main thing. Those who are fast effort makers become engrossed in the study a great deal. Those who have an interest in the study wake up early and study. Those who perform devotion also wake up early in the morning. They perform such intense devotion! When someone is about to cut off his head, he has a vision. Here, Baba says: Visions are harmful. By getting caught up in having visions, knowledge and yoga stop; time is wasted. This is why you should have no interest at all in going into trance. It is also a great disease through which Maya enters. Just as at a time of war when the news is being broadcast, the other side causes such bad interference that no one can hear, similarly, Maya too puts obstacles in front of many; she doesn’t allow you to remember the Father. It is understood when there are obstacles in someone’s fortune. It is checked whether Maya has entered or not and whether they say anything against the law or not. Otherwise, Baba would quickly remove their position from them. Many human beings say: If only I were to be granted a vision, I would give You all of this wealth, property, etc. Baba says: Keep all of it yourself! What need does God have of your money? The Father knows that whatever there is in this world, it is all to be burnt to ashes. What could Baba do? Through Baba, a lake is created, drop by drop. Follow the Father’s directions! Open a hospital-cum-university where people can come and become the masters of the world. You have to sit on three feet of land and make ordinary human beings into Narayan. However, even those with three feet of land cannot be found. The Father says: I explain the essence of all the Vedas and scriptures to you. All of those scriptures belong to the path of devotion. Baba is not defaming anyone. This play has already been created. This is only said to explain to you. It is still a play, after all. No one can defame a play. I speak of the Sun of Knowledge and the moon of knowledge, so they go to the moon and investigate. Is there a kingdom there? Japanese people believe in the sun. I speak of the sun dynasty. People then sit and worship the sun. They offer water to the sun. So, Baba has explained to you children: Don’t argue too much about anything. Only tell them one thing. The Father says: Remember Me alone and you will then become pure. Everyone in the kingdom of Ravan is now impure, but they don’t believe themselves to be impure. Children, let there be the land of peace in one eye and the land of happiness in the other eye. Forget this land of sorrow. You are living lighthouses. Even in the exhibition, the name “Bharat, the Lighthouse has been kept. However, they do not understand. You are now lighthouses. At ports, a lighthouse shows the way for the steamers. You, too, show everyone the path to the land of liberation and the land of liberation-in-life. When people come to an exhibition, tell them with a lot of love: God, the Father of All, is One. God, the Father, the Supreme Soul, says: Remember Me! He would definitely say that through a mouth. Establishment takes place through Brahma. Therefore, all of us are Brahma Kumars and Kumaris, the mouth-born creation of Brahma. Even those brahmins sing praise of you Brahmins: Salutation to the deities, the Brahmins. The Highest on High is only the one Father. He says: I teach you the highest Raj Yoga, through which you become the masters of the whole world. No one can snatch that kingdom away from you. It was Bharat’s kingdom over the world. There is so much praise of Bharat. You know that we are now establishing this kingdom according to shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become fast effort makers, become interested in the study. Wake up early in the morning and study this study. Have no desire to have visions. Time is wasted in that.
  2. Remember the land of peace and the land of happiness. Forget this land of sorrow. Don’t argue with anyone. Show the path to the lands of liberation and liberation-in-life with love.
Blessing: May you become an elevated server who achieves success in service by having the consciousness of being an instrument.
The consciousness of being an instrument automatically brings you success in service. If there isn’t the consciousness of being an instrument, there is no success. An elevated server means one who places his every step in the Father’s footsteps and makes his every step elevated by following the elevated directions at every step. The more all waste is finished in service and in the self, the more powerful you accordingly become and a powerful soul achieves success at every step. An elevated server is one who always has zeal and enthusiasm and also gives enthusiasm to others.
Slogan: Offer yourself for Godly service and you will continue to receive thanks.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 February 2020

04-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुमने अब तक जो कुछ पढ़ा है उसे भूल जाओ, जीते जी मरना माना सब कुछ भूलना, पिछला कुछ भी याद न आये”
प्रश्नः- जो पूरा जीते जी मरे हुए नहीं हैं उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह बाप से भी आरग्यु करते रहेंगे। शास्त्रों का मिसाल देते रहेंगे। जो पूरा मर गये वह कहेंगे बाबा जो सुनाते वही सच है। हमने आधाकल्प जो सुना वह झूठ ही था इसलिए अब उसे मुख पर भी न लायें। बाप ने कहा है हियर नो ईविल…….
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। बच्चों को समझाया गया है जब शान्ति में बिठाते हो, जिसको नेष्ठा अक्षर दिया है, यह ड्रिल कराई जाती है। अब बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं कि जो जीते जी मरे हैं, कहते हैं हम जीते जी मर चुके है, जैसे मनुष्य मरता है तो सब कुछ भूल जाता है सिर्फ संस्कार रहते हैं। अभी तुम भी बाप का बनकर दुनिया से मर गये हो। बाप कहते हैं तुम्हारे में भक्ति के संस्कार थे, अब वह संस्कार बदल रहे हैं तो जीते जी तुम मरते हो ना। मरने से मनुष्य पढ़ा हुआ सब कुछ भूल जाता है फिर दूसरे जन्म में नये सिर पढ़ना होता है। बाप भी कहते हैं तुम जो कुछ पढ़े हुए हो वह भूल जाओ। तुम तो बाप के बने हो ना। मैं तुमको नई बात सुनाता हूँ। तो अब वेद, शास्त्र, ग्रंथ, जप, तप आदि यह सब बातें भूल जाओ इसलिए ही कहा है – हियर नो ईविल, सी नो ईविल…….। यह तुम बच्चों के लिए है। कई बहुत शास्त्र आदि पढ़े हुए हैं, पूरा मरे नहीं हैं तो फालतू आरग्यु करेंगे। मर गये फिर कभी आरग्यु नहीं करेंगे। कहेंगे बाप ने जो सुनाया है वही सच है, बाकी बातें हम मुख पर क्यों लायें! बाप कहते हैं यह मुख में लाओ ही नहीं। हियर नो ईविल। बाप ने डायरेक्शन दिया ना-कुछ भी सुनो नहीं। बोलो अभी हम ज्ञान सागर के बच्चे बने हैं तो भक्ति को क्यों याद करें! हम एक भगवान को ही याद करते हैं। बाप ने कहा है भक्तिमार्ग को भूल जाओ। मैं तुमको सहज बात सुनाता हूँ कि मुझ बीज को याद करो तो झाड़ सारा बुद्धि में आ ही जायेगा। तुम्हारी मुख्य है गीता। गीता में ही भगवान की समझानी है। अब यह हैं नई बातें। नई बात पर हमेशा ज्यादा ध्यान दिया जाता है। है भी बड़ी सिम्पुल बात। सबसे बड़ी बात है याद करने की। घड़ी-घड़ी कहना पड़ता है-मन्मनाभव। बाप को याद करो, यही बहुत गुह्य बातें हैं, इसमें ही विघ्न पड़ते हैं। बहुत बच्चे हैं जो सारे दिन में दो मिनट भी याद नहीं करते। बाप का बनते भी अच्छा कर्म नहीं करते तो याद भी नहीं करते, विकर्म करते रहते हैं। बुद्धि में बैठता ही नहीं है तो कहेंगे यह बाप की आज्ञा का निरादर है, पढ़ नहीं सकेंगे, वह ताकत नहीं मिलती। जिस्मानी पढ़ाई से भी बल मिलता है ना। पढ़ाई है सोर्स ऑफ इनकम। शरीर निर्वाह होता है सो भी अल्पकाल के लिए। कई पढ़ते-पढ़ते मर जाते हैं तो वह पढ़ाई थोड़ेही साथ ले जायेंगे। दूसरा जन्म ले फिर नयेसिर पढ़ना पड़े। यहाँ तो तुम जितना पढ़ेंगे, वह साथ ले जायेंगे क्योंकि तुम प्रालब्ध पाते हो दूसरे जन्म में। बाकी तो वह सब है ही भक्ति मार्ग। क्या-क्या चीज़ें हैं, यह कोई नहीं जानते। रूहानी बाप तुम रूहों को बैठ ज्ञान देते हैं। एक ही बार बाप सुप्रीम रूह आकर रूहों को नॉलेज देते हैं, जिससे विश्व के मालिक बन जाते हो। भक्ति मार्ग में स्वर्ग थोड़ेही होता है। अभी तुम धणी के बने हो। माया कई बार बच्चों को भी निधन का बना देती है, छोटी-छोटी बातों में आपस में लड़ पड़ते हैं। बाप की याद में नहीं रहते तो निधन के हुए ना। निधनका बना तो जरूर कुछ न कुछ पाप कर्म कर देंगे। बाप कहते हैं मेरा बनकर मेरा नाम बदनाम न करो। एक-दो से बड़ा प्यार से चलो, उल्टा-सुल्टा बोलो मत।

बाप को ऐसी-ऐसी अहिल्यायें, कुब्जायें, भीलनियों का भी उद्वार करना पड़ता है। कहते हैं भीलनी के बेर खाये। अब ऐसे ही भीलनी के थोड़ेही खा सकते हैं। भीलनी से जब ब्राह्मणी बन जाती है तो फिर क्यों नहीं खायेंगे! इसलिए ब्रह्मा भोजन की महिमा है। शिवबाबा तो खायेंगे नहीं। वह तो अभोक्ता है। बाकी यह रथ तो खाते हैं ना। तुम बच्चों को कोई से आरग्यु करने की दरकार नहीं है। हमेशा अपना सेफ साइड रखना चाहिए। अक्षर ही दो बोलो-शिवबाबा कहते हैं। शिवबाबा को ही रूद्र कहा जाता है। रूद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला निकली तो रूद्र भगवान हुआ ना। कृष्ण को तो रूद्र नहीं कहेंगे। विनाश भी कोई कृष्ण नहीं कराते, बाप ही स्थापना, विनाश, पालना कराते हैं। खुद कुछ नहीं करते, नहीं तो दोष पड़ जाए। वह है करनकरावनहार। बाप कहते हैं हम कोई कहते नहीं हैं कि विनाश करो। यह सारा ड्रामा में नूँधा हुआ है। शंकर कुछ करता है क्या? कुछ भी नहीं। यह सिर्फ गायन है कि शंकर द्वारा विनाश। बाकी विनाश तो वह आपेही कर रहे हैं। यह अनादि बना हुआ ड्रामा है जो समझाया जाता है। रचयिता बाप को ही सब भूल गये हैं। कहते हैं गॉड फादर रचयिता है परन्तु उनको जानते ही नहीं। समझते हैं कि वह दुनिया क्रियेट करते हैं। बाप कहते हैं मैं क्रियेट नहीं करता हूँ, मैं चेन्ज करता हूँ। कलियुग को सतयुग बनाता हूँ। मैं संगम पर आता हूँ, जिसके लिये गाया हुआ है-सुप्रीम ऑस्पीशियस युग। भगवान कल्याणकारी है, सबका कल्याण करते हैं परन्तु कैसे और क्या कल्याण करते हैं, यह कुछ जानते नहीं। अंग्रेजी में कहते हैं लिबरेटर, गाइड, परन्तु उनका अर्थ थोड़ेही समझते हैं। कहते हैं भक्ति के बाद भगवान मिलेगा, सद्गति मिलेगी। सर्व की सद्गति तो कोई मनुष्य कर न सके। नहीं तो परमात्मा को पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता क्यों गाया जाये? बाप को कोई भी जानते नहीं, निधण के हैं। बाप से विपरीत बुद्धि हैं। अब बाप क्या करे। बाप तो खुद मालिक है। उनकी शिव जयन्ती भी भारत में मनाते हैं। बाप कहते हैं मैं आता हूँ भक्तों को फल देने। आता भी भारत में हूँ। आने के लिए मुझे शरीर तो जरूर चाहिए ना। प्रेरणा से थोड़ेही कुछ होगा। इनमें प्रवेश कर, इनके मुख द्वारा तुमको ज्ञान देता हूँ। गऊमुख की बात नहीं है। यह तो इस मुख की बात है। मुख तो मनुष्य का चाहिए, न कि जानवर का। इतना भी बुद्धि काम नहीं करती है। दूसरे तरफ फिर भागीरथ दिखाते हैं, वह कैसे और कब आते हैं, ज़रा भी किसको पता नहीं है। तो बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं कि तुम मर गये तो भक्ति मार्ग को एकदम भूल जाओ। शिव भगवानुवाच मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। मैं ही पतित-पावन हूँ। तुम पवित्र हो जायेंगे फिर सबको ले जाऊंगा। मैसेज घर-घर में दो। बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। तुम पवित्र बन जायेंगे। विनाश सामने खड़ा है। तुम बुलाते भी हो हे पतित-पावन आओ, पतितों को पावन बनाओ, रामराज्य स्थापन करो, रावण राज्य से मुक्त करो। वह हर एक अपने-अपने लिए कोशिश करते हैं। बाप तो कहते हैं मैं आकर सर्व की मुक्ति करता हूँ। सभी 5 विकारों रूपी रावण की जेल में पड़े हैं, मैं सर्व की सद्गति करता हूँ। मुझे कहा भी जाता है दु:ख हर्ता सुख कर्ता। रामराज्य तो जरूर नई दुनिया में होगा।

तुम पाण्डवों की अभी है प्रीत बुद्धि। कोई-कोई की तो फौरन प्रीत बुद्धि बन जाती है। कोई-कोई की आहिस्ते-आहिस्ते प्रीत जुटती है। कोई तो कहते हैं बस हम सब कुछ बाप को सरेन्डर करते हैं। सिवाए एक के दूसरा कोई रहा ही नहीं। सबका सहारा एक गॉड ही है। कितनी सिम्पुल से सिम्पुल बात है। बाप को याद करो और चक्र को याद करो तो चक्रवर्ती राजा-रानी बनेंगे। यह स्कूल ही है विश्व का मालिक बनने का, तब चक्रवर्ती राजा नाम पड़ा है। चक्र को जानने से फिर चक्रवर्ती बनते हैं। यह बाप ही समझाते हैं। बाकी आरग्यु कुछ भी नहीं करनी है। बोलो, भक्ति मार्ग की सब बातें छोड़ो। बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो। मूल बात ही यह है। जो तीव्र पुरूषार्थी होते हैं वह जोर से पढ़ाई में लग जाते हैं, जिनको पढ़ाई का शौक होता है वह सवेरे उठकर पढ़ाई करते हैं। भक्ति वाले भी सवेरे उठते हैं। नौधा भक्ति कितनी करते हैं, जब सिर काटने लगते हैं तो साक्षात्कार होता है। यहाँ तो बाबा कहते हैं यह साक्षात्कार भी नुकसानकारक है। साक्षात्कार में जाने से पढ़ाई और योग दोनों बंद हो जाते हैं। टाइम वेस्ट हो जाता है इसलिए ध्यान आदि का शौक तो बिल्कुल नहीं रखना है। यह भी बड़ी बीमारी है, जिससे माया की प्रवेशता हो जाती है। जैसे लड़ाई के समय न्यूज़ सुनाते हैं तो बीच में ऐसी कुछ खराबी कर देते हैं जो कोई सुन न सके। माया भी बहुतों को विघ्न डालती है। बाप को याद करने नहीं देती है। समझा जाता है इनकी तकदीर में विघ्न है। देखा जाता है कि माया की प्रवेशता तो नहीं है। बेकायदे तो नहीं कुछ बोलते हैं तो फिर झट बाबा नीचे उतार देंगे। बहुत मनुष्य कहते हैं-हमको सिर्फ साक्षात्कार हो तो इतना सब धन माल आदि हम आपको दे देंगे। बाबा कहते हैं यह तुम अपने पास ही रखो। भगवान को तुम्हारे पैसे की क्या दरकार रखी है। बाप तो जानते हैं इस पुरानी दुनिया में जो कुछ है, सब भस्म हो जायेगा। बाबा क्या करेंगे? बाबा पास तो फुरी-फुरी (बूँद-बूँद) तलाव हो जाता है। बाप के डायरेक्शन पर चलो, हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोलो, जहाँ कोई भी आकर विश्व का मालिक बन सके। तीन पैर पृथ्वी में बैठ तुमको मनुष्य को नर से नारायण बनाना है। परन्तु 3 पैर पृथ्वी के भी नहीं मिलते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको सभी वेदों-शास्त्रों का सार बताता हूँ। यह शास्त्र हैं सब भक्ति मार्ग के। बाबा कोई निंदा नहीं करते हैं। यह तो खेल बना हुआ है। यह सिर्फ समझाने के लिए कहा जाता है। है तो फिर भी खेल ना। खेल की हम निंदा नहीं कर सकते हैं। हम कहते हैं ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा तो फिर वह चन्द्रमा आदि में जाकर ढूँढते हैं। वहाँ कोई राजाई रखी है क्या? जापानी लोग सूर्य को मानते हैं। हम कहते हैं सूर्यवंशी, वह फिर सूर्य की बैठ पूजा करते हैं, सूर्य को पानी देते हैं। तो बाबा ने बच्चों को समझाया है कोई बात में जास्ती आरग्यु नहीं करनी है। बात ही एक सुनाओ बाप कहते हैं-मामेकम् याद करो तो पावन बनेंगे। अभी रावण राज्य में सभी पतित हैं। परन्तु अपने को पतित कोई मानते थोड़ेही हैं।

बच्चे, तुम्हारी एक आंख में शान्तिधाम, एक आंख में सुखधाम बाकी इस दु:खधाम को भूल जाओ। तुम हो चैतन्य लाइट हाउस। अभी प्रदर्शनी में भी नाम रखा है-भारत दी लाइट हाउस……. लेकिन वह कोई थोड़ेही समझेंगे। तुम अभी लाइट हाउस हो ना। पोर्ट पर लाइट हाउस स्टीमर को रास्ता बताते हैं। तुम भी सबको रास्ता बताते हो मुक्ति और जीवनमुक्ति धाम का। जब कोई भी प्रदर्शनी में आते हैं तो बहुत प्रेम से बोलो-गॉड फादर तो सबका एक है ना। गॉड फादर या परमपिता कहते हैं कि मुझे याद करो तो जरूर मुख द्वारा कहेंगे ना। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, हम सब ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हैं ब्रह्मा मुख वंशावली। तुम ब्राह्मणों की वह ब्राह्मण भी महिमा गाते हैं ब्राह्मण देवताए नम:। ऊंच ते ऊंच है ही एक बाप। वह कहते हैं मैं तुमको ऊंच ते ऊंच राजयोग सिखाता हूँ, जिससे तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो। वह राजाई तुमसे कोई छीन न सके। भारत का विश्व पर राज्य था। भारत की कितनी महिमा है। अभी तुम जानते हो कि हम श्रीमत पर यह राज्य स्थापन कर रहे हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) तीव्र पुरूषार्थी बनने के लिए पढ़ाई का शौक रखना है। सवेरे-सवेरे उठकर पढ़ाई पढ़नी है। साक्षात्कार की आश नहीं रखनी है, इसमें भी टाइम वेस्ट जाता है।

2) शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है, इस दु:खधाम को भूल जाना है। किसी से भी आरग्यु नहीं करनी है, प्रेम से मुक्ति और जीवनमुक्तिधाम का रास्ता बताना है।

वरदान:- निमित्त भाव द्वारा सेवा में सफलता प्राप्त करने वाले श्रेष्ठ सेवाधारी भव
निमित्त भाव-सेवा में स्वत: सफलता दिलाता है। निमित्त भाव नहीं तो सफलता नहीं। श्रेष्ठ सेवाधारी अर्थात् हर कदम बाप के कदम पर रखने वाले। हर कदम श्रेष्ठ मत पर श्रेष्ठ बनाने वाले। जितना सेवा में, स्व में व्यर्थ समाप्त हो जाता है उतना ही समर्थ बनते हैं और समर्थ आत्मा हर कदम में सफलता प्राप्त करती है। श्रेष्ठ सेवाधारी वह है जो स्वयं भी सदा उमंग उत्साह में रहे और औरों को भी उमंग उत्साह दिलाये।
स्लोगन:- ईश्वरीय सेवा में स्वयं को आफर करो तो आफरीन मिलती रहेगी।

TODAY MURLI 4 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 February 2019 :- Click Here

04/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become introverted and think about benefiting yourselves. When you go on tour, sit in solitude and churn the ocean of knowledge. Ask yourself: Do I always remain cheerful?
Question: In which respect should you children of the Merciful Father have mercy for yourselves?
Answer: Just as the Father has mercy in wanting His children to change from thorns into flowers, and He makes so much effort to make you children beautiful, so you children, too, should feel mercy for yourselves. You call out to Baba: O Purifier, come and make us into flowers. He has now come and so will you not become flowers? If you have mercy for yourselves, you will remain soul conscious and imbibe everything the Father tells you.

Om shanti. You children understand that that One is the Father, the Teacher and also the Satguru. So the Father asks you children: When you come here, do you look at those pictures of Lakshmi and Narayan and the ladder? When you look at those two, you see your aim and objective The whole cycle of how you became deities and then continued to come down this ladder enters your intellects. Only you children receive this knowledge. You are students. Your aim and objective is in front of you. When anyone comes, explain to him that this is your aim and objective. Through this study, you become deities. Then you come down the ladder of 84 births and you then have to repeat it. This knowledge is very easy but, in spite of that, why do people fail as they move along? This Godly study is absolutely easy compared to a worldly study. Your aim and objective and the cycle of 84 births are right in front of you. Both these pictures should also be put up in the visit ors  room. You also need materials for service in order to do service. All the knowledge is included in these. We are making this effort at this time. We have to make a lot of effort to become satopradhan. You have to become introverted and churn the ocean of knowledge. When you go on tour, this is what you should have in your intellects. Baba knows that this is numberwise. Some understand this very well and so they must definitely be making effort for their own benefit. Each student understands that so-and-so is studying well. If you do not study, you cause yourself a loss. You should make yourselves worthy to some extent. You are also students of the unlimited Father. This Brahma is also studying. That Lakshmi and Narayan is the status and the ladder is the cycle of 84 births. That is the first number birth and this is the last number birth. You are becoming deities. When people come in, explain to them the pictures of your aim and objective and the ladder. Come and sit in front of these every day and you will remember this. You have it in your intellects that the unlimited Father is explaining to you. You have the full knowledge of the whole cycle and so you should remain very cheerful. Ask yourself: Why am I not able to maintain that stage? What is the reason that there is a problem in remaining cheerful? Those who create these pictures would have it in their intellects that that is their future status, that it is their aim and objective and that is the cycle of 84 births. It is remembered that this is easy Raja Yoga. Baba continues to explain to you every day: You are the children of the unlimited Father, and so you should surely claim the inheritance of heaven and, because the secrets of the whole cycle have been explained to you, you should definitely remember them. You also need good manners when speaking to people. Your behaviour has to be very good. While moving along and doing all your work, it should remain in your intellects that you have come to the Father to study. You just have to take this knowledge with you. The study is easy. If students don’t study well, their teacher would think that there are many dull children in his class, that his name will be defamed and that he won’t receive a prize. The Government will not give him anything either. This too is a school. Here, there is no question of receiving a prize etc. Nevertheless, you are inspired to make effort. You have to reform your behaviour and imbibe divine virtues and you also have to have a good character. The Father has come to benefit you, but you are unable to follow the Father’s shrimat. If you are given shrimat to go somewhere and you don’t go there, you would say: It is hot there. Or: It is cold there. You don’t recognize the fact that it is the Father who is telling you to do that. You only have this ordinary chariot in your intellects. That Father doesn’t enter your intellects at all. Everyone is very much afraid of the big kings; they have great authority. Here, the Father says: I am the Lord of the Poor. No one knows Me, the Creator, or the beginning, middle and end of creation. There are so many people. Look at what they talk about! They don’t even know who God is. It is a wonder. The Father says: I enter an ordinary body and give you the introduction of Myself and the beginning, middle and end of creation. This ladder of 84 births is so clear. The Father says: I made you into that and I am now making you that once again. You had divine intellects. So, who then made you into those with stone intellects? For half the cycle you continued to fall in the kingdom of Ravan. You now definitely have to become satopradhan from tamopradhan. Your conscience also says that the Father is the Truth. He would definitely only tell you the truth. This Brahma is studying and you are also studying. He says: I am also a student and I too pay attention to the study. I have not yet reached the accuratekarmateet stage. Who would not pay attention to such a study to claim such a high status? Everyone would say: We should definitely claim such a status. We are the children of the Father and so we should definitely be the masters. However, there is always an up and a down in studying. You have now received the very essence of knowledge. At the beginning, there was only old knowledge. Gradually, you continued to understand. You now understand that it is only now that you truly receive knowledge. The Father also says: Today, I am telling you the deepest things of all. No one can receive liberation-in-life instantly; they cannot take all the knowledge at once. Earlier, you didn’t have this picture of the ladder. You now understand that you truly go around the cycle in that way. We are spinners of the discus of self-realisation. Baba has explained to us souls the secrets of the whole cycle. The Father says: Your religion is one that gives a lot of happiness. The Father Himself comes and makes you into the masters of heaven. The time of happiness for others is now when death is just ahead. Aeroplanes, electricity etc. did not exist previously. For those people, it is as though it is heaven now. They build so many big palaces. They think that they have a lot of happiness now. They are able to go to London so quickly. They consider this to be heaven. Someone has to explain to them that the golden age is called heaven. The iron age would not be called heaven. If someone sheds his body in hell, he would certainly also take rebirth in hell. Previously, you too didn’t understand these things. You now understand them. When the kingdom of Ravan begins, we begin to fall and we then have all the vices. You have now received all the knowledge and so your behaviour etc. should be very royal. You are even more valuable now than when you are in the golden age. The Father, who is the Ocean of Knowledge, gives you all the knowledge at this time. No human being can understand knowledge and devotion. They have mixed up the two. They think that reading the scriptures is knowledge and that worshipping is devotion. So, the Father is now making so much effort to make you beautiful. You children should also feel mercy because you call out to Baba to come and make the impure ones pure and into flowers. The Father has now come and so you should have mercy for yourselves. Can we not become such flowers? Why have we not yet climbed onto Baba’s heart throne? You don’t pay attention. The Father is so merciful. You call out to the Father to come into the impure world and make you pure. Therefore, just as the Father feels mercy, so you children should also feel mercy. Otherwise, those who defame the Satguru cannot claim a high status. No one would have even dreamt about who the Satguru is. People believe that their guru might curse them and there would be a loss. When they have a child, they believe that that was due to the blessing of their guru. That is a matter of temporary happiness. The Father says: Children, now have mercy for yourselves. Become soul conscious and you will also be able to imbibe. It is souls that do everything. I am teaching you souls. Also consider yourselves to be souls. Make this firm and remember the Father too. If you don’t remember the Father, how would your sins be absolved? People on the path of devotion too remember Him: O God, have mercy! The Father is the Liberatorand also the Guide. This is also His incognito praise. The Father comes and tells you everything: You used to remember Me on the path of devotion. When I come, I definitely have to come at My own time. It is not that I can come whenever I want. I come when it is fixed in the drama for Me to come. However, I do not have such thoughts. It is that Father who is teaching you. This one is also studying with Him. That One never makes any mistakes or causes sorrow for anyone. All teachers are numberwise. That true Father is teaching you the truth. The children of the Truth are true. Then, by becoming children of the false one, you become false for half the cycle. You even forget the true Father. First of all, ask whether this is the golden-aged, new world or the old world. People would then think that you ask very good questions. At this time, there are the five vices in everyone. The five vices don’t exist there. This is something very easy to understand. However, if some of you don’t understand it, how can you explain at the exhibitions? Instead of doing service, you would come back having done disservice. To go out and do service is not like going to your aunty’s home! Great understanding is required. Baba understands from everyone’s activities. The Father is the Father and the Father would then also say: This was fixed in the drama. When anyone comes, it is fine for a Brahma Kumari to explain. The very name is Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidhyalaya. It is the name of the Brahma Kumaris that will be glorified. At this time, all are completely engrossed in the five vices. It is so difficult to go and explain to them. They don’t understand anything. They would just say that this knowledge is very good. They themselves don’t understand anything. There continues to be obstacle after obstacle. Then you also have to create those tactics. Have the police on security guard and have the pictures insured. This is a sacrificial fire and so there will definitely be obstacles here. The whole of the old world is to be sacrificed into it. Why else would it be called a sacrificial fire? Everything has to be sacrificed into the sacrificial fire. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Knowledge is also called a study. This is a pathshala (study place) and also a sacrificial fire. You study in a pathshala (study place) and become deities and then everything will be sacrificed into this sacrificial fire. Only those who continue to practi s e this every day would be able to explain. If someone doesn’t practi s e this, what would he be able to explain? For some people of the world, it is now heaven for a temporary period. For you, there will be heaven for half the cycle. This drama is predestined. When you think about it, you are amazed by it. The kingdom of Ravan is now ending and the kingdom of Rama is being established. There is no question of a battle in this. When people see a picture of this ladder, they are very amazed at what the Father has explained to you. This Brahma has also learnt from the Father and so he continues to explain to others. Daughters also explain. Those who benefit many others will definitely receive more fruit. Those who haven’t studied will have to bow down in front of those who have studied. The Father tells you every day: Benefit yourselves. When you keep these pictures in front of you, you become intoxicated. This is why Baba has had these pictures put up in the rooms. The aim and objective is so easy. A very good character is needed for this. When your heart is clean, your desires can be fulfilled. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always have the awareness that you are students of the unlimited Father, that God is teaching you and that you therefore have to study well and glorify the Father’s name. Let your behaviour be very royal.
  2. Become merciful like the Father and make yourself into flowers from thorns and others into flowers. Become introverted and think about benefiting yourself and others.
Blessing: May you make the poisonous snake of the vices a garland around your neck and become an image of tapasya like Shankar.
The five vices are a poisonous snake for people, but the snake becomes a garland around the neck of you yogi souls who experiment with yoga. The memorial of you Brahmins and Father Brahma in the form of the bodiless, tapaswi form of Shankar is worshipped even today. Secondly, this snake becomes a stage for you to dance on in happiness. This spiritual stage is shown in the form of a physical stage. So, when you gain such victory over the vices you will then be said to be a soul who experiments with yoga and is an image of tapasya.
Slogan: Those who have a sweet and peaceful nature cannot be attacked by the evil spirit of anger.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 February 2019

To Read Murli 3 February 2019 :- Click Here
04-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अन्तर्मुखी हो अपने कल्याण का ख्याल करो, घूमने-फिरने जाते हो तो एकान्त में विचार सागर मंथन करो, अपने से पूछो – हम सदा हर्षित रहते हैं”
प्रश्नः- रहमदिल बाप के बच्चों को अपने पर कौन-सा रहम करना चाहिए?
उत्तर:- जैसे बाप को रहम पड़ता है कि मेरे बच्चे कांटे से फूल बनें, बाप बच्चों को गुल-गुल बनाने की कितनी मेहनत करते हैं तो बच्चों को भी अपने ऊपर तरस आना चाहिए कि हम बाबा को बुलाते हैं – हे पतित-पावन आओ, फूल बनाओ, अब वह आये हैं तो क्या हम फूल नहीं बनेंगे! रहम पड़े तो देही-अभिमानी रहें। बाप जो सुनाते हैं उसको धारण करें।

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे समझते हैं – यह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तो बाप बच्चों से पूछते हैं कि तुम यहाँ जब आते हो तो इन लक्ष्मी-नारायण के और सीढ़ी के चित्र को देखते हो? जब दोनों को देखा जाता है तो एम ऑब्जेक्ट और सारा चक्र बुद्धि में आ जाता है कि हम देवता बनकर फिर ऐसे सीढ़ी उतरते आये हैं। यह ज्ञान तुम बच्चों को ही मिलता है। तुम हो स्टूडेन्ट। एम ऑब्जेक्ट सामने खड़ा है। कोई भी आये तो उनको समझाओ – यह एम ऑब्जेक्ट है। इस पढ़ाई से यह देवी-देवता जाकर बनते हैं। फिर 84 जन्म की सीढ़ी उतरते हैं, फिर रिपीट करना है। बहुत इज़ी नॉलेज है फिर भी पढ़ते-पढ़ते नापास क्यों हो पड़ते हैं? उस जिस्मानी पढ़ाई से भी यह ईश्वरीय पढ़ाई बिल्कुल सहज है। एम ऑब्जेक्ट और 84 जन्मों का चक्र बिल्कुल सामने खड़ा है। यह दोनों चित्र विजिटिंग रूम में भी होने चाहिए। सर्विस करने के लिए सर्विस का हथियार भी चाहिए। सारा ज्ञान इसमें ही है। यह पुरुषार्थ भी हम अभी करते हैं। सतोप्रधान बनने के लिए बहुत मेहनत करनी है। इसमें अन्तर्मुखी हो विचार सागर मंथन करना है। घूमने-फिरने जाते हो तो भी बुद्धि में यही होना चाहिए। यह तो बाबा जानते हैं कि नम्बरवार हैं। कोई अच्छी तरह समझते हैं तो जरूर पुरूषार्थ करते होंगे, अपने कल्याण के लिए। हर एक स्टूडेन्ट समझते हैं यह अच्छा पढ़ते हैं। खुद नहीं पढ़ते हैं तो अपने को ही घाटा डालते हैं। अपने को तो कुछ लायक बनाना चाहिए। तुम भी स्टूडेन्ट हो, सो भी बेहद बाप के! यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण है मर्तबा और सीढ़ी है 84 जन्मों के चक्र की। यह पहले नम्बर का जन्म, यह लास्ट नम्बर का जन्म। तुम देवता बनते हो। अन्दर आने से ही सामने एम ऑब्जेक्ट और सीढ़ी पर समझाओ। रोज़ आकर इनके सामने बैठो तो स्मृति आये। तुम्हारी बुद्धि में है कि बेहद का बाप हमको समझा रहे हैं। सारे चक्र का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में भरपूर है तो कितना हर्षित रहना चाहिए। अपने से पूछना चाहिए कि हमारी वह अवस्था क्यों नहीं रहती? क्या कारण है जो हर्षित रहने में रोला पड़ता है? जो चित्र बनाते हैं उन्हों की बुद्धि में भी होगा कि यह हमारा भविष्य पद है, यह हमारी एम ऑब्जेक्ट है और यह 84 का चक्र है। गायन भी है सहज राजयोग। सो तो बाबा रोज़ समझाते रहते हैं कि तुम बेहद बाप के बच्चे हो तो स्वर्ग का वर्सा जरूर लेना चाहिए और सारे चक्र का भी राज़ समझाया है तो जरूर वह याद करना पड़े और फिर बातचीत करने के मैनर्स भी अच्छे चाहिए। चलन बहुत अच्छी चाहिए। चलते-फिरते काम-काज करते बुद्धि में सिर्फ यही रहे कि हम बाप के पास पढ़ने के लिए आये हैं। यह ज्ञान ही तुमको साथ ले जाना है। पढ़ाई तो सहज है। परन्तु अगर पूरी रीति नहीं पढ़ेंगे तो टीचर को जरूर यह ख्याल रहेगा कि अगर क्लास में बहुत डल बच्चे होंगे तो हमारा नाम बदनाम होगा। इज़ाफा नहीं मिलेगा। गवर्मेन्ट कुछ नहीं देगी। यह भी स्कूल है ना। इसमें इज़ाफा आदि की बात नहीं। फिर भी पुरुषार्थ तो कराया जाता है ना। चलन को सुधारो, दैवीगुण धारण करो। कैरेक्टर अच्छे चाहिए। बाप तो तुम्हारे कल्याण के लिए आये हैं। परन्तु बाप की श्रीमत पर चल नहीं सकते। श्रीमत कहे यहाँ जाओ तो जायेंगे नहीं। कहेंगे यहाँ गर्मी है, यहाँ ठण्डी है। बाप को पहचानते नहीं कि कौन हमको कहते हैं? यह साधारण रथ ही बुद्धि में आता है। वह बाप बुद्धि में आता ही नहीं है। बड़े राजाओं का कितना सबको डर रहता है। बड़ी अथॉरिटी होती है। यहाँ तो बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज़ हूँ। मुझ रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को कोई नहीं जानते हैं। कितने ढेर मनुष्य हैं। कैसी-कैसी बातें करते हैं, क्या-क्या बोलते हैं। भगवान् क्या चीज़ होती है, यह भी जानते नहीं। वन्डर है ना। बाप कहते हैं मैं साधारण तन में आकर अपना और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय देता हूँ। 84 की यह सीढ़ी कितनी क्लीयर है।

बाप कहते हैं मैंने तुमको यह बनाया था, अब फिर बना रहा हूँ। तुम पारसबुद्धि थे फिर तुमको पत्थरबुद्धि किसने बनाया? आधाकल्प रावण राज्य में तुम गिरते ही आते हो। अब तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान जरूर बनना है। विवेक भी कहता है बाप है ही सत्य। वह जरूर सत्य ही बतायेंगे। यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं, तुम भी पढ़ते हो। यह कहते हैं मैं भी स्टूडेन्ट हूँ। पढ़ाई पर अटेन्शन देता हूँ। एक्यूरेट कर्मातीत अवस्था तो अभी बनी नहीं है। ऐसा कौन होगा जो इतना ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई पर ध्यान नहीं देगा। सब कहेंगे ऐसा पद तो जरूर पाना चाहिए। बाप के हम बच्चे हैं तो जरूर मालिक होने चाहिए। बाकी पढ़ाई में उतराई-चढ़ाई तो होती ही है। अब तुमको एकदम ज्ञान का तन्त (सार) मिला है। शुरू में तो पुराना ही ज्ञान था। धीरे-धीरे तुम समझते ही आये हो। अभी समझते हैं ज्ञान तो सचमुच अभी हमको मिलता है। बाप भी कहते हैं आज मैं तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। फट से तो कोई जीवनमुक्ति पा नहीं सकता। सारा ज्ञान उठा नहीं सकता। पहले यह सीढ़ी का चित्र थोड़ेही था। अब समझते हैं बरोबर हम ऐसे चक्र लगाते हैं। हम ही स्वदर्शन चक्रधारी हैं। बाबा ने हम आत्माओं को सारे चक्र का राज़ समझा दिया है। बाप कहते हैं तुम्हारा धर्म बहुत सुख देने वाला है। बाप ही आकर तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। औरों के सुख का टाइम तो अभी आया है, जबकि मौत सामने खड़ा है। यह एरोप्लेन, बिजलियाँ आदि पहले नहीं थी। उन्हों के लिए तो अभी जैसे स्वर्ग है। कितने बड़े-बड़े महल बनाते हैं। समझते हैं अभी तो हमको बहुत सुख है। लन्दन में कितना जल्दी पहुँच जाते हैं। बस, यही स्वर्ग समझते हैं। अब उन्हों को जब कोई समझाये कि स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है, कलियुग को थोड़ेही स्वर्ग कहेंगे। नर्क में शरीर छोड़ा तो जरूर पुनर्जन्म भी नर्क में ही लेंगे। आगे तुम भी यह बातें नहीं समझते थे। अब समझते हो। रावण राज्य आता है तो हम गिरने लग जाते हैं, सब विकार आ जाते हैं। अभी तुमको सारा ज्ञान मिला है तो चलन आदि भी बहुत रॉयल होनी चाहिए। अभी तुम सतयुग से भी जास्ती वैल्युबुल हो। बाप जो ज्ञान का सागर है वह सारा ज्ञान अभी देते हैं। और कोई भी मनुष्य ज्ञान और भक्ति को समझ न सकें। मिक्स कर दिया है। समझते हैं शास्त्र पढ़ना – यह ज्ञान है और पूजा करना भक्ति है। तो अब बाप गुल-गुल बनाने के लिए कितनी मेहनत करते हैं। बच्चों को भी तरस आना चाहिए कि हम बाबा को बुलाते हैं पतितों को आकर पावन बनाओ, फूल बनाओ। अब बाप आये हैं तो अपने पर भी रहम करना चाहिए। क्या हम ऐसे फूल नहीं बन सकते! अब तक हम बाबा के दिल तख्त पर क्यों नहीं चढ़े हैं! अटेन्शन नहीं देते। बाप कितना रहम दिल है। बाप को बुलाते ही हैं पतित दुनिया में कि आकर पावन बनाओ। तो जैसे बाप को रहम पड़ता है, ऐसे बच्चों को भी रहम पड़ना चाहिए। नहीं तो सतगुरू के निदंक ठौर न पायें। यह तो किसको स्वप्न में भी नहीं होगा कि सतगुरू कौन? लोग गुरूओं के लिए समझ लेते हैं कि कहाँ श्राप न दे देवें, अकृपा न हो जाए। बच्चा पैदा हुआ, समझेंगे गुरू की कृपा हुई। यह है अल्पकाल के सुख की बात। बाप कहते हैं – बच्चे, अपने पर रहम करो। देही-अभिमानी बनो तो धारणा भी होगी। सब-कुछ आत्मा ही करती है। मैं भी आत्मा को पढ़ाता हूँ। अपने को आत्मा पक्का समझो और बाप को याद करो। बाप को याद ही नहीं करेंगे तो विकर्म विनाश कैसे होंगे। भक्ति मार्ग में भी याद करते हैं – हे भगवान् रहम करो। बाप लिबरेटर भी है तो गाइड भी है…… यह भी उनकी गुप्त महिमा है, बाप आकर सब बतलाते हैं कि भक्ति मार्ग में तुम याद करते हो। मैं आऊंगा तो जरूर अपने समय पर। ऐसे जब चाहूँ तब आऊं, यह नहीं। ड्रामा में जब नूँध है तब आता हूँ। बाकी ऐसे ख्यालात भी कभी नहीं आते हैं। तुमको पढ़ाने वाला वह बाप है। यह भी उनसे पढ़ते हैं। वह तो कभी भी कोई ख़ता (भूल) नहीं करते, किसको रंज नहीं करते। बाकी सब नम्बरवार टीचर हैं। वह सच्चा बाप तुमको सत्य ही सिखलाते हैं। सच्चे के बच्चे भी सच्चे। फिर झूठे के बच्चे बनने से आधाकल्प झूठे बन पड़ते हैं। सच्चे बाप को ही भूल जाते हैं।

पहले-पहले तो समझाओ कि यह सतयुगी नई दुनिया है या पुरानी दुनिया है? तो मनुष्य समझें यह प्रश्न बहुत अच्छा पूछते हैं। इस समय सभी में 5 विकार प्रवेश हैं। वहाँ 5 विकार होते नहीं। यह है तो बहुत सहज बात समझने की, परन्तु जो खुद ही नहीं समझते तो वह प्रदर्शनी में क्या समझायेंगे? सर्विस के बदले डिस सर्विस करके आयेंगे। बाहर में जाकर सर्विस करना मासी का घर नहीं है। बड़ी समझ चाहिए। बाबा हरेक की चलन से समझ जाते हैं। बाप तो बाप है फिर तो बाप भी कहेंगे यही ड्रामा में था। कोई भी आता है तो ब्रह्माकुमारी का समझाना ठीक है। नाम भी ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय है। नाम बाला भी ब्रह्माकुमारियों का होना है। इस समय सब 5 विकारों में हिरे हुए हैं। उन्हों को जाकर समझाना कितना मुश्किल होता है। कुछ भी समझते नहीं हैं सिर्फ इतना कहेंगे ज्ञान तो अच्छा है। खुद समझते नहीं हैं। विघ्न के पीछे विघ्न पड़ता रहता है। फिर युक्तियां भी रचनी पड़ती हैं। पुलिस का पहरा रखो, चित्र इनश्योर करा दो। यह यज्ञ है इसमें विघ्न जरूर पड़ेंगे। सारी पुरानी दुनिया इनमें स्वाहा होनी है। नहीं तो यज्ञ नाम क्यों पड़े। यज्ञ में स्वाहा होना है। इसका रूद्र ज्ञान यज्ञ नाम पड़ा है। ज्ञान को पढ़ाई भी कहा जाता है। यह पाठशाला भी है तो यज्ञ भी है। तुम पाठशाला में पढ़कर देवता बनते हो फिर यह सब-कुछ इस यज्ञ में स्वाहा हो जाता है। समझा वही सकेंगे जो रोज़ प्रैक्टिस करते रहेंगे। अगर प्रैक्टिस नहीं होगी तो वह क्या बात कर सकेंगे। दुनिया के मनुष्यों के लिए स्वर्ग अभी है, अल्पकाल के लिए। तुम्हारे लिए स्वर्ग आधाकल्प के लिए होगा। यह भी ड्रामा बना हुआ है। विचार किया जाता है तो बड़ा वन्डर लगता है। अब रावण राज्य ख़त्म हो रामराज्य स्थापन होता है। इसमें लड़ाई आदि की कोई भी बात नहीं। यह सीढ़ी देख लोग बड़ा वन्डर खाते हैं। तो बाप ने क्या-क्या समझाया है, यह ब्रह्मा भी बाप से ही सीखा है जो समझाते रहते हैं। बच्चियां भी समझाती हैं। जो बहुतों का कल्याण करते हैं उन्हों को जरूर जास्ती फल मिलेगा। पढ़े हुए के आगे अनपढ़े जरूर भरी ढोयेंगे। बाप रोज़-रोज़ समझाते हैं – अपना कल्याण करो। इन चित्रों को सामने रखने से ही नशा चढ़ जाता है इसलिए बाबा ने कमरे में यह चित्र रख दिये हैं। एम ऑब्जेक्ट कितनी सहज है, इसमें कैरेक्टर्स बहुत अच्छे चाहिए। दिल साफ तो मुराद हांसिल हो सकती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा स्मृति में रखना है कि हम बेहद बाप के स्टूडेन्ट हैं, भगवान् हमें पढ़ाते हैं, इसलिए अच्छी तरह पढ़कर बाप का नाम बाला करना है। अपनी चलन बड़ी रॉयल रखनी है।

2) बाप समान रहमदिल बन कांटे से फूल बनना और दूसरों को फूल बनाना है। अन्तर्मुखी बन अपने वा दूसरों के कल्याण का चिन्तन करना है।

वरदान:- विकारों रूपी जहरीले सांपों को गले की माला बनाने वाले शंकर समान तपस्वीमूर्त भव
यह पांच विकार जो लोगों के लिए जहरीले सांप हैं, यह सांप आप योगी वा प्रयोगी आत्मा के गले की माला बन जाते हैं। यह आप ब्राह्मणों वा ब्रह्मा बाप के अशरीरी तपस्वी शंकर स्वरूप का यादगार आज तक भी पूजा जाता है। दूसरा – यह सांप खुशी में नांचने की स्टेज बन जाते हैं – यह स्थिति स्टेज के रूप में दिखाते हैं। तो जब विकारों पर ऐसी विजय हो तब कहेंगे तपस्वीमूर्त, प्रयोगी आत्मा।
स्लोगन:- जिनका स्वभाव मीठा, शान्तचित है उस पर क्रोध का भूत वार नहीं कर सकता।
Font Resize