daily murli 4 august

TODAY MURLI 4 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 August 2020

04/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this Brahma is the walking, talking throne of the Father, the One who is the Immortal Image. It is when He enters Brahma that He creates you Brahmins.
Question: Which secrets can the clever children understand and explain clearly to others?
Answer: Who Brahma is and how Brahma becomes Vishnu. Prajapita Brahma is here; he is not a deity. Brahma has created the sacrificial fire of knowledge through the Brahmins. Only the clever children can understand all of these secrets and explain them to others. The cavalry and the infantry become confused about this.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Only the One is praised on the path of devotion. They sing His praise, but neither do they know Him nor do they have His accurate introduction. If they were to know His accurate praise, they would definitely explain it. You children know that God is the Highest on High. His picture is the main one. There must also be the children of Brahma. All of you are Brahmins. Only you Brahmins know Brahma; no one else knows him. This is why they become confused. They say: How can this one be Brahma? Brahma has been portrayed residing in the subtle region but the Father of Humanity cannot exist in the subtle region where there is no creation. People debate with you about this a great deal. You have to explain to them that Brahma and the Brahmins exist, do they not? Just as the word “Christian” has emerged from the word “Christ”, the word “Buddhist” from the word “Buddha” and the word “Islam” from the word “Abraham”, so, Brahmins too are well known because of Prajapita Brahma. There is Adi Dev Brahma. In fact, Brahma shouldn’t be called a deity; that is wrong. You should ask those who call themselves brahmins where Brahma came from. Whose creation was he? Who created Brahma? None of them can tell you because they don’t know. Only you children know that the chariot which Shiv Baba enters belongs to the soul that had previously become Prince Krishna. After taking 84 births, he became Brahma. The name he was born with was different because he is a human being. Then, when Baba entered this one, He named him Brahma. You children also know that this Brahma becomes the form of Vishnu; he becomes Narayan. At the end of his 84 births, he is in an ordinary chariot. Each soul’s body is his chariot. The Immortal Image has this walking, talking throne. The Sikhs created that throne which they call the Immortal Throne. Here, all are immortal thrones; all souls are immortal images. God, the Highest on High, needs a chariot, does He not? He enters this chariot and sits in it in order to give knowledge. Only He is called the knowledge-full One. He gives the knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. “Knowledge-full does not mean the One who knows all secrets within or the One who knows everything. The meaning of “omnipresence” is different and the meaning of “Janijananhar” is also different. Human beings confuse everything and say whatever enters their minds. You children now understand that all of you Brahmins are the children of Brahma. Our clan is the highest of all. Those people consider deities to be the highest because deities exist at the beginning of the golden age. The children of Prajapita Brahma are Brahmins. No one, except you children, understands this. Since they consider Brahma to be in the subtle region, how could anyone understand this? Worldly brahmins, who perform worship and go to people’s homes to eat on special occasions, are different from you Brahmins. You don’t go to anyone’s house to eat on special occasions. You now have to explain very clearly the secret of Brahma. Tell them: Put everything else aside and first of all remember the Father through whom you will become pure from impure. You will then understand all of these aspects. When they have even the slightest doubt, they leave the Father. The first and foremost aspect is Alpha and beta. The Father says: Constantly remember Me alone. I definitely have to enter someone. He must also have a name. I come and create him. You need a great deal of wisdom to explain about Brahma. The horse riders and the infantry become confused about this. Each one explains according to his stage. Prajapita Brahma is here. He creates the sacrificial fire of knowledge through Brahmins. Therefore, Brahmins are definitely needed. Prajapita Brahma also has to exist here. Only through him can there be Brahmins. Brahmin priests say that they are the children of Brahma. They believe that their clan has continued from time immemorial, but they don’t know when Brahma existed. You are now Brahmins. Brahmins are those who are the children of Brahma. Those people don’t know the occupation of their Father. In Bharat, there are first Brahmins. The Brahmin clan is the highest of all. Those brahmins believe that their clan definitely emerged from Brahma, but they are unable to say when or how it emerged. You know that Prajapita Brahma creates Brahmins; those Brahmins then have to become deities. The Father comes and teaches Brahmins. There is no dynasty of Brahmins. There is the clan of Brahmins. There can only be a dynasty when there are kings and queens, just as there is the sun dynasty. None of you Brahmins becomes a king. When people say that there used to be the two kingdoms of the Kauravas and the Pandavas, that is wrong. Neither of them had a kingdom. It is now government of the people by the people. That isn’t called a kingdom; they have no crown. Baba has explained that, at first in Bharat, there were the double-crowned kings and then there were those with a single crown. At this time, there are no crowns. You have to explain and prove this very clearly. Those who have imbibed this knowledge well will be able to explain very well. A great deal needs to be explained about Brahma. They still don’t know about Vishnu. You also have to explain this. Vaikunth is called the Land of Vishnu which means the kingdom of Lakshmi and Narayan. When Krishna is a prince, he would say that his father is the king. It isn’t that Krishna’s father cannot be a king. Krishna is called a prince;therefore, he must definitely have taken birth to a king. He wouldn’t be called a prince if he had taken birth in a wealthy family. There is the difference of day and night between the status of a king and that of a wealthy person. There is no mention of the king who was Krishna’s father. Krishna’s name is glorified so much. His father’s status is not said to be as high. His status is secondclass because he simply becomes the instrument to give birth to Krishna. It is not that that soul studied more than the Krishna soul; no. It is Krishna who then becomes Narayan; his father’s name disappears. He was definitely a Brahmin but he studied less than Krishna. The Krishna soul studied more than the soul of his father. This is why his name is glorified. Who was the father of Krishna? It is as though no one knows this. As you go further you will come to know this. He has to become that here. There are also the parents of Radhe, but Radhe’s name is glorified more than those of her parents. Because her parents studied less, Radhe’s name becomes higher than theirs. These are detailed matters which you children have to explain. Everything depends on how you study. You need wisdom to explain about Brahma. He becomes Krishna and then takes 84 births. You also take 84 births. Not everyone comes down at the same time. Those who are ahead in this study will come down first. Everyone comes down, numberwise. These are very subtle matters. Those who have less wisdom will not be able to imbibe this. They return, numberwise. You are transferred, numberwise. At the end, such a big queue will form. They will go and reside in their own section, numberwise. Everyone’s place is fixed. This play is so wonderful, but no one understands it. This is called the jungle of thorns. Here, everyone continues to cause sorrow for one another. There, happiness is natural, whereas here, happiness is artificial. Only the one Father gives real happiness. The happiness here is like the droppings of a crow. Day by day, everyone continues to become tamopradhan. There is so much sorrow. They say: Baba, many storms of Maya come. Maya uses confusion. There is a feeling of great sorrow. If you have any feeling of sorrow after becoming a child of the Bestower of Happiness, the Father says: Children, this is your great suffering of karma. Since you have found the Father, there should be no feeling of sorrow. Finish your past karmic accounts with the power of yoga. If there is no power of yoga, then those accounts have to be settled by experiencing punishment. It is not good to claim a status after experiencing punishment. You have to make effort. Otherwise, there will be the Tribunal. There are many subjects. According to the drama, everyone experiences a great deal of punishment in the jail of a womb. Souls wander around a great deal too. Some souls cause a lot of harm. When an impure soul enters someone else, that person is troubled so much. Such things do not happen in the new world. You are now making effort to go to the new world. You will go there and build new palaces. You take birth to a king just as Krishna takes birth. However, at first, there will not be that many palaces etc; they will have to be built. Who creates them? Those to whom you take birth. It is remembered that you take birth to a king. In the future you will see what is to happen. Baba will not tell you this now; it would then become an artificial play. This is why Baba doesn’t tell you anything. To tell you is not fixed in the drama. Baba says: I too am an actor. If I were to know about the things of the future in advance, I would tell you many things. If Baba were Antaryami, He would tell you in advance. The Father says: No, you have to continue to observe whatever happens in the drama as detached observers. At the same time, remain intoxicated on the pilgrimage of remembrance. It is in this that some fail. Knowledge cannot be any more or any less. It is only in the pilgrimage of remembrance that there is sometimes greater remembrance and sometimes less remembrance. The knowledge that you have received is always there. Sometimes, there is enthusiasm for the pilgrimage of remembrance and sometimes, there isn’t. There is fluctuation on the pilgrimage. You don’t climb the ladder through knowledge. Knowledge cannot be a pilgrimage. The pilgrimage is of remembrance. The Father says: By staying in remembrance you remain safe. When you become body conscious you are deceived a great deal and you perform sinful acts. Lust is the greatest enemy. Many fail in this. Baba does not take up the subject of anger etc., so much. It is said of knowledge, that you receive liberation-in-life in a second and it is also said that, even if you make all the oceans into ink, the knowledge will not end. It is also said: Remember Alpha! They don’t know what “to remember” means. They say: Take us from the iron age to the golden age! There is sorrow in the old world. You can see how so many buildings collapse in the rains and how so many people drown. There will be natural calamities from rain etc. All of that will continue to happen suddenly. People are sleeping in the sleep of Kumbhakarna. They will awaken at the time of destruction, but what will they be able to do then? They will all die. Even the earth will shake with full force. There will be storms and rain etc. Bombs will be dropped but there will also be the addition of civil war here because “Rivers of blood” has been remembered. There will be a lot of beating and killing. They bring cases against one another, so they would definitely fight with one another. All of them are orphans whereas you belong to the Lord and Master. You do not have to fight. By becoming Brahmins you belong to the Lord and Master. A husband and father are said to be the lord and master. Shiv Baba is the Husband of all husbands. When a girl gets engaged she says: When will I meet my husband? You souls say: Shiv Baba, I have become engaged to You. Now, how can I meet You? Some write the truth and some hide a great deal. They don’t write honestly and say: Baba, I made this mistake. Please forgive me! If anyone falls into vice, his intellect is unable to imbibe anything. Baba says: If you make such a severe mistake you will be completely shattered. I have come to make you beautiful. Therefore, why do you dirty your face? Although you will go to heaven, you will claim a status worth a few pennies. The kingdom is being established. Some become defeated and destroy their status for birth after birth. They would be asked: Is this the status you have come to claim from the Father? When the father becomes so elevated, why should the children become subjects? For the father to be on the throne and his children to become maids and servants is a matter of great shame. You will have visions of everything at the end. You will then have great repentance: I did that for nothing! Sannyasis also remain celibate. All those who are vicious bow their heads in front of them. There is regard for purity. If it is not in someone’s fortune, then, even though the Father has come to teach him, he would still continue to make mistakes. He doesn’t even remember the Father. Therefore, many sins are committed. There are now the omens of Jupiter over you children. There are no omens greater than these. The omens continue to circle over you children. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Observe every scene of this drama as a detached observer. Remain intoxicated in remembrance of the one Father. Never allow your enthusiasm for the pilgrimage of remembrance to decrease.
  2. Never become careless about this study. In order to make your fortune elevated, you must definitely become pure. Don’t be defeated and thereby destroy your status for birth after birth.
Blessing: May you constantly be an embodiment of happiness and remain beyond all sorrow with the great mantra of “Manmanabhav”.
When any type of sorrow comes, use the great mantra through which all sorrow will run away. Do not let yourself experience the slightest sorrow even in your dreams. Even if your body becomes ill, or there is some fluctuation in money, no matter what happens, do not let any waves of sorrow to enter you. Waves come and go in an ocean, but those who know how tosurf in those waves experience happiness in that. They jump and go through the waves, as though they are playing a game. So, as you are the children of the Ocean, embodiments of happiness do not allow waves of sorrow to come.
Slogan: Put the speciality of determination into every thought in a practical way and revelation will then take place.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

04-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अकाल मूर्त बाप का बोलता-चलता तख्त यह (ब्रह्मा) है, जब वह ब्रह्मा में आते हैं तब तुम ब्राह्मणों को रचते हैं”
प्रश्नः- अक्लमंद बच्चे किस राज़ को समझकर ठीक रीति से समझा सकते हैं?
उत्तर:- ब्रह्मा कौन है और वह ब्रह्मा सो विष्णु कैसे बनते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ है, वह कोई देवता नहीं। ब्रह्मा ने ही ब्राह्मणों द्वारा ज्ञान यज्ञ रचा है…. यह सब राज़ अक्लमंद बच्चे ही समझकर समझा सकते हैं। घोड़ेसवार और प्यादे तो इसमें मूँझ जायेंगे।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। भक्ति में महिमा करते हैं एक की। महिमा तो गाते हैं ना। परन्तु न उनको जानते हैं, न उनके यथार्थ परिचय को जानते हैं। अगर यथार्थ महिमा जानते तो वर्णन जरूर करते। तुम बच्चे जानते हो ऊंच ते ऊंच है भगवान। चित्र मुख्य है उनका। ब्रह्मा की सन्तान भी होगी ना। तुम सब ब्राह्मण ठहरे। ब्रह्मा को भी ब्राह्मण जानेंगे और कोई नहीं जानते, इसलिए मूँझते हैं। यह ब्रह्मा कैसे हो सकता। ब्रह्मा को दिखाया है सूक्ष्मवतनवासी। अब प्रजापिता सूक्ष्मवतन में हो न सके। वहाँ रचना होती नहीं। इस पर तुम्हारे साथ बहुत वाद-विवाद भी करते हैं। समझाना चाहिए – ब्रह्मा और ब्राह्मण हैं तो सही ना। जैसे क्राइस्ट से क्रिश्चियन अक्षर निकला है। बुद्ध से बौद्धी, इब्राहम से इस्लामी। वैसे प्रजापिता ब्रह्मा से ब्राह्मण नामीग्रामी हैं। आदि देव ब्रह्मा। वास्तव में ब्रह्मा को देवता नहीं कह सकते। यह भी रांग है। ब्राह्मण जो अपने को कहलाते हैं उनसे पूछना चाहिए ब्रह्मा कहाँ से आया? यह किसकी रचना है। ब्रह्मा को किसने क्रियेट किया? कभी कोई बता न सके, जानते ही नहीं। यह भी तुम बच्चे जानते हो – शिवबाबा का जो रथ है, जिसमें प्रवेश करते हैं। यह है ही वह जो आत्मा कृष्ण प्रिन्स बना था। 84 जन्मों के बाद यह (ब्रह्मा) आकर बने हैं। जन्मपत्री का नाम तो इनका अपना अलग होगा ना क्योंकि है तो मनुष्य ना। फिर इनमें प्रवेश करने से इनका नाम ब्रह्मा रख देते हैं। यह भी बच्चे जानते हैं – वही ब्रह्मा, विष्णु का रूप है। नारायण बनते हैं ना। 84 जन्मों के अन्त में भी साधारण रथ है ना। यह (शरीर) सब आत्माओं के रथ हैं। अकालमूर्त का बोलता चलता तख्त है। सिक्ख लोगों ने फिर वह तख्त बना दिया है। उसको अकालतख्त कहते हैं। यह तो अकाल तख्त सब हैं। आत्मायें सब अकालमूर्त हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान को यह रथ तो चाहिए ना। रथ में प्रवेश हो बैठ नॉलेज देते हैं। उनको ही नॉलेजफुल कहा जाता है। रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज देते हैं। नॉलेजफुल का अर्थ कोई अन्तर्यामी वा जानी जाननहार नहीं है। सर्वव्यापी का अर्थ दूसरा है, जानी जाननहार का अर्थ दूसरा है। मनुष्य तो सबको मिलाकर जो आता है सो कहते जाते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम सब ब्राह्मण ब्रह्मा की औलाद हैं। हमारा कुल सबसे ऊंच है। वो लोग देवताओं को ऊंच रखते हैं क्योंकि सतयुग आदि में देवता हुए हैं। प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद ब्राह्मण होते हैं – यह कोई जानते नहीं सिवाए तुम बच्चों के। उनको पता भी कैसे पड़े। जबकि ब्रह्मा को सूक्ष्मवतन में समझ लेते हैं। वह जिस्मानी ब्राह्मण अलग हैं जो पूजा करते हैं, धामा खाते हैं। तुम तो धामा आदि नहीं खाते हो। ब्रह्मा का राज़ अभी अच्छी रीति समझाना पड़ता है। बोलो और बातों को छोड़ बाप जिससे पतित से पावन बनना है, पहले उनको तो याद करो। फिर यह बातें भी समझ जायेंगे। थोड़ी बात में संशय पड़ने से बाप को ही छोड़ देते हैं। पहली मुख्य बात है अल्फ और बे। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं जरूर किसमें तो आऊंगा ना। उनका नाम भी होना चाहिए। उनको आकर रचता हूँ। ब्रह्मा के लिए तुमको समझाने का बहुत अक्ल चाहिए। प्यादे, घोड़ेसवार मूँझ पड़ते हैं। अवस्था अनुसार समझाते हैं ना। प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ है। ब्राह्मणों द्वारा ज्ञान यज्ञ रचते हैं तो जरूर ब्राह्मण ही चाहिए ना। प्रजापिता ब्रह्मा भी यहाँ चाहिए, जिससे ब्राह्मण हों। ब्राह्मण लोग कहते भी हैं हम ब्रह्मा की सन्तान हैं। समझते हैं परम्परा से हमारा कुल चला आता है। परन्तु ब्रह्मा कब था वह पता नहीं है। अभी तुम ब्राह्मण हो। ब्राह्मण वह जो ब्रह्मा की सन्तान हों। वह तो बाप के आक्यूपेशन को जानते ही नहीं। भारत में पहले ब्राह्मण ही होते हैं। ब्राह्मणों का है ऊंच ते ऊंच कुल। वह ब्राह्मण भी समझते हैं हमारा कुल जरूर ब्रह्मा से ही निकला होगा। परन्तु कैसे, कब… वह वर्णन नहीं कर सकते। तुम समझते हो – प्रजापिता ब्रह्मा ही ब्राह्मणों को रचते हैं। जिन ब्राह्मणों को ही फिर देवता बनना है। ब्राह्मणों को आकर बाप पढ़ाते हैं। ब्राह्मणों की भी डिनायस्टी नहीं है। ब्राह्मणों का कुल है, डिनायस्टी तब कहा जाए जब राजा-रानी बनें। जैसे सूर्यवंशी डिनायस्टी। तुम ब्राह्मणों में राजा तो बनते नहीं। वह जो कहते हैं कौरवों और पाण्डवों का राज्य था, दोनों रांग हैं। राजाई तो दोनों को नहीं है। प्रजा का प्रजा पर राज्य है, उनको राजधानी नहीं कहेंगे। ताज है नहीं। बाबा ने समझाया था – पहले डबल सिरताज भारत में थे, फिर सिंगल ताज। इस समय तो नो ताज। यह भी अच्छी रीति सिद्धकर बताना है, जो बिल्कुल अच्छी धारणा वाला होगा वह अच्छी रीति समझा सकेंगे। ब्रह्मा पर ही जास्ती बात समझाने की होती है। विष्णु को भी नहीं जानते। यह भी समझाना होता है। वैकुण्ठ को विष्णुपुरी कहा जाता है अर्थात् लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। कृष्ण प्रिन्स होगा तो कहेंगे ना – हमारा बाबा राजा है। ऐसे नहीं कि कृष्ण का बाप राजा नहीं हो सकता। कृष्ण प्रिन्स कहलाया जाता है तो जरूर राजा के पास जन्म हुआ है। साहूकार पास जन्म ले तो प्रिन्स थोड़ेही कहलायेंगे। राजा के पद और साहूकार के पद में रात-दिन का फ़र्क हो जाता है। कृष्ण के बाप राजा का नाम ही नहीं है। कृष्ण का कितना नाम बाला है। बाप का ऊंच पद नहीं कहेंगे। वह सेकण्ड क्लास का पद है जो सिर्फ निमित्त बनते हैं कृष्ण को जन्म देने। ऐसे नहीं कि कृष्ण की आत्मा से वह ऊंच पढ़ा हुआ है। नहीं। कृष्ण ही सो फिर नारायण बनते हैं। बाकी बाप का नाम ही गुम हो जाता है। है जरूर ब्राह्मण। परन्तु पढ़ाई में कृष्ण से कम है। कृष्ण की आत्मा की पढ़ाई अपने बाप से ऊंच थी, तब तो इतना नाम होता है। कृष्ण का बाप कौन था – यह जैसे किसको पता नहीं। आगे चल मालूम पड़ेगा। बनना तो यहाँ से ही है। राधे के भी माँ-बाप तो होंगे ना। परन्तु उनसे राधे का नाम जास्ती है क्योंकि माँ-बाप कम पढ़े हुए हैं। राधे का नाम उनसे ऊंच हो जाता है। यह हैं डीटेल की बातें – बच्चों को समझाने के लिए। सारा मदार पढ़ाई पर है। ब्रह्मा पर भी समझाने का अक्ल चाहिए। वही कृष्ण जो है उनकी आत्मा ही 84 जन्म भोगती है। तुम भी 84 जन्म लेते हो। सब इकट्ठे तो नहीं आयेंगे। जो पढ़ाई में पहले-पहले होते हैं, वहाँ भी वह पहले आयेंगे। नम्बरवार तो आते हैं ना। यह बड़ी महीन बातें हैं। कम बुद्धि वाले तो धारणा कर न सकें। नम्बरवार जाते हैं। तुम ट्रांसफर होते हो नम्बरवार। कितनी बड़ी क्यू है, जो पिछाड़ी में जायेगी। नम्बरवार अपने-अपने स्थान पर जाकर निवास करेंगे। सबका स्थान बना हुआ है। यह बड़ा वन्डरफुल खेल है। परन्तु कोई समझते नहीं हैं। इनको कहा जाता है कांटों का जंगल। यहाँ सब एक-दो को दु:ख देते रहते हैं। वहाँ तो नैचुरल सुख है। यहाँ है आर्टीफिशियल सुख। रीयल सुख एक बाप ही देने वाला है। यहाँ है काग विष्टा के समान सुख। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं। कितना दु:ख है। कहते हैं – बाबा माया के तूफान बहुत आते हैं। माया उलझा देती है, दु:ख की फीलिंग बहुत आती है। सुखदाता बाप के बच्चे बनकर भी अगर दु:ख की फीलिंग आती है तो बाप कहते – बच्चे, यह तुम्हारा बड़ा कर्मभोग है। जब बाप मिला तो दु:ख की फीलिंग नहीं आनी चाहिए। जो पुराने कर्मभोग हैं उसे योगबल से चुक्तू करो। अगर योगबल नहीं होगा तो मोचरा खाकर चुक्तू करना पड़ेगा। मोचरा और मानी तो अच्छा नहीं। (सज़ा खाकर पद पाना अच्छा नहीं) पुरू-षार्थ करना चाहिए नहीं तो फिर ट्रिब्युनल बैठती है। प्रजा तो ढेर है। यह तो ड्रामा अनुसार सब गर्भजेल में बहुत सज़ायें खाते हैं। आत्मायें भटकती भी बहुत हैं। कोई-कोई आत्मा बहुत नुकसान करती है – जब कोई में अशुद्ध आत्मा का प्रवेश होता है तो कितना हैरान होते हैं। नई दुनिया में यह बातें होती नहीं। अभी तुम पुरूषार्थ करते हो – हम नई दुनिया में जायें। वहाँ जाकर नये-नये महल बनाने पड़ेंगे। राजाओं के पास जन्म लेते हो, जैसे कृष्ण जन्म लेते हैं। परन्तु इतने महल आदि सब पहले से थोड़ेही होते हैं। वह तो फिर बनाने पड़े। कौन रचते हैं, जिनके पास जन्म लेते हैं। गाया हुआ भी हैं – राजाओं के पास जन्म होता है। क्या होता है सो तो आगे चल देखना है। अभी थोड़ेही बाबा बतायेंगे। वह फिर आर्टीफिशियल नाटक हो जाए, इसलिए बताते कुछ भी नहीं हैं। ड्रामा में बताने की नूँध नहीं। बाप कहते हैं मैं भी पार्टधारी हूँ। आगे की बातें पहले से ही जानता होता तो बहुत कुछ बतलाता। बाबा अन्तर्यामी होता तो पहले से बताता। बाप कहते हैं – नहीं, ड्रामा में जो होता है, उनको साक्षी हो देखते चलो और साथ-साथ याद की यात्रा में मस्त रहो। इसमें ही फेल होते हैं। ज्ञान कभी कम-जास्ती नहीं होता। याद की यात्रा ही कभी कम, कभी जास्ती होती है। ज्ञान तो जो मिला है सो है ही। याद की यात्रा में कभी उमंग रहता है, कभी ढीला। नीचे-ऊपर यात्रा होती है। ज्ञान में तुम सीढ़ी नहीं चढ़ते। ज्ञान को यात्रा नहीं कहा जाता। यात्रा है याद की। बाप कहते हैं याद में रहने से तुम सेफ्टी में रहेंगे। देह-अभिमान में आने से तुम बहुत धोखा खाते हो। विकर्म कर देते हो। काम महाशत्रु है, उनमें फेल हो पड़ते हैं। क्रोध आदि की बाबा इतनी बात नहीं करते।

ज्ञान से या तो है सेकण्ड में जीवनमुक्ति या तो फिर कहते सागर को स्याही बनाओ तो भी पूरा नहीं हो। या तो सिर्फ कहते हैं अल्फ को याद करो। याद करना किसको कहा जाता, यह थोड़ेही जानते हैं। कहते हैं कलियुग से हमको सतयुग में ले चलो। पुरानी दुनिया में है दु:ख। देखते हो बरसात में कितने मकान गिरते रहते हैं, कितने डूब जाते हैं। बरसात आदि यह नैचुरल कैलेमिटीज भी होंगी। यह सब अचानक होता रहेगा। कुम्भकरण की नींद में सोये हुए हैं। विनाश के समय जागेंगे फिर क्या कर सकेंगे! मर जायेंगे। धरती भी जोर से हिलती है। तूफान बरसात आदि सब होता है। बॉम्ब्स भी फेंकते हैं। परन्तु यहाँ एडीशन है सिविलवार…….. रक्त की नदियां गाई हुई हैं। यहाँ मारामारी होती है। एक-दो पर केस करते रहते हैं। सो लड़ेंगे भी जरूर। सब हैं निधनके, तुम हो धनी के। कोई लड़ाई आदि तुमको नहीं करनी है। ब्राह्मण बनने से तुम धनी के बन गये। धनी बाप को या पति को कहते हैं। शिवबाबा तो पतियों का पति है। सगाई हो जाती है तो फिर कहते हैं हम ऐसे पति के साथ कब मिलेंगी। आत्मायें कहती हैं – शिवबाबा, हमारी तो आपसे सगाई हो गई। अब आपसे हम मिलें कैसे? कोई तो सच लिखते हैं, कोई तो बहुत छिपाते हैं। सच्चाई से लिखते नहीं कि बाबा हमसे यह भूल हो गई। क्षमा करो। अगर कोई विकार में गिरा तो बुद्धि में धारणा हो नहीं सकती। बाबा कहते हैं तुम ऐसी कड़ी भूल करेंगे तो चकनाचूर हो जायेंगे। तुमको हम गोरा बनाने के लिए आये हैं, फिर तुम काला मुँह कैसे करते हो। भल स्वर्ग में आयेंगे, पाई पैसे का पद पायेंगे। राजधानी स्थापन हो रही है ना। कोई तो हार खाकर जन्म-जन्मान्तर पद भ्रष्ट हो जाते हैं। कहेंगे बाप से तुम यह पद पाने आये हो, बाप इतना ऊंच बनें, हम बच्चे फिर प्रजा थोड़ेही बनेंगे। बाप गद्दी पर हो और बच्चा दास-दासी बने, कितनी लज्जा की बात है। पिछाड़ी में तुमको सब साक्षात्कार होंगे। फिर बहुत पछतायेंगे। नाहेक ऐसा किया। संन्यासी भी ब्रह्मचर्य में रहते हैं, तो विकारी सब उनको माथा टेकते हैं। पवित्रता का मान है। किसकी तकदीर में नहीं है तो बाप आकर पढ़ाते फिर भी ग़फलत करते रहते हैं। याद ही नहीं करते। बहुत विकर्म बन जाते हैं। तुम बच्चों पर अब है ब्रहस्पति की दशा। इससे ऊंच दशा और कोई होती नहीं। दशायें चक्र लगाती रहती हैं तुम बच्चों पर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस ड्रामा की हर सीन को साक्षी होकर देखना है, एक बाप की याद में मस्त रहना है। याद की यात्रा में कभी उमंग कम न हो।

2. पढ़ाई में कभी ग़फलत नहीं करना, अपनी ऊंच तकदीर बनाने के लिए पवित्र जरूर बनना है। हार खाकर जन्म-जन्मान्तर के लिए पद भ्रष्ट नहीं करना है।

वरदान:- मनमनाभव के महामंत्र द्वारा सर्व दु:खों से पार रहने वाले सदा सुख स्वरूप भव
जब किसी भी प्रकार का दु:ख आये तो मंत्र ले लो जिससे दु:ख भाग जायेगा। स्वप्न में भी जरा भी दुख का अनुभव न हो, तन बीमार हो जाए, धन नीचे ऊपर हो जाए, कुछ भी हो लेकिन दुख की लहर अन्दर नहीं आनी चाहिए। जैसे सागर में लहरें आती हैं और चली जाती हैं लेकिन जिन्हें उन लहरों में लहराना आता है वह उसमें सुख का अनुभव करते हैं, लहर को जम्प देकर ऐसे क्रास करते हैं जैसे खेल कर रहे हैं। तो सागर के बच्चे सुख स्वरूप हो, दुख की लहर भी न आये।
स्लोगन:- हर संकल्प में दृढ़ता की विशेषता को प्रैक्टिकल में लाओ तो प्रत्यक्षता हो जायेगी।

TODAY MURLI 4 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 3 August 2019:- Click Here

04/08/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
09/01/85

The spiritual personality of the elevated fortunate souls.

Today, the Father, the Bestower of Fortune, was seeing His elevated, fortunate children. Each child’s line of fortune is so elevated and imperishable. All you children are fortunate because you all belong to the Bestower of Fortune. This is why fortune is your birthright. You have all automatically claimed a right in the form of a birthright. Everyone has a right, but there is a difference in experiencing that right in life for oneself and for others and in enabling others to experience it. To be worthy of the right to fortune and to stay in that happiness and intoxication and to make others fortunate through the Bestower of Fortune is to maintain the intoxication of having a right. Just as the intoxication of temporary wealth is visible on the face and in the behaviour of someone who has material wealth, in the same way, the intoxication of the wealth of the imperishable and elevated fortune received from the Bestower of Fortune is automatically visible on your faces and in your activities. The form of attainment of the wealth of elevated fortune is alokik and spiritual. Out of all souls in the world, the sparkle and spiritual intoxication of your elevated fortune is elevated, loving and unique. An elevated fortunate soul is always full and would be experienced as having that spiritual intoxication. The rays of the sun of elevated fortune would be experienced from a distance to be sparkling. The personalityof the property of fortune of a fortunate soul would be experienced from a distance. Everyone would always experience spiritual royalty from the eyes of a soul with elevated fortune. No matter how many great souls with royalty and personality there may be in the world, in front of souls with elevated fortune, those with a worldly personality would experience that spiritual personality to be extremely elevated and unique. They would experience those souls with elevated fortune to be from a unique and alokik world, that they are completely unique ones who are called the people of Allah. When something new is invented, people just keep looking at it with love. In the same way, they become extremely happy to see souls with elevated fortune. From the elevated attitude of elevated, fortunate souls, the atmosphere becomes such that others also experience themselves to be attaining something, that is, they experience the atmosphere or the environment to be one of attainment. They become lost in the experience of attaining something, of receiving something. Seeing the elevated, fortunate souls, their experience is as though a well itself has come walking to those who are thirsty. Souls who lack attainment experience some hope of attainment. In the midst of the darkness of hopelessness everywhere, they experience an ignited lamp of pure hopes. Disheartened souls experience happiness in their hearts. Have you become those with such elevated fortune? Do you know these spiritual specialities of yours? Do you accept them? Do you experience them? Or, do you just think about them and hear about them? Whilst walking and moving around, you don’t ever forget the invaluable diamond of the soul with elevated fortune that’s hidden in your ordinary form, do you? You don’t consider yourself to be an ordinary soul, do you? The body is old and ordinary, but the soul is great and special. Look at the horoscope of the fortune of the whole world! No one else can have a line of elevated fortune like the one you have. No matter how full of wealth souls are, how full souls are with the treasures of knowledge from the scriptures of the soul, how full souls are with the power of the knowledge of science, what would they appear to be in front of the fullness of fortune of all of you? They themselves have now begun to experience that although externally full, they are empty inside, whereas you are internally full and externally ordinary. Therefore, whilst constantly keeping your elevated fortune in your awareness, keep your spiritual intoxication of being powerful. Externally, you may appear to be ordinary, but let greatness be visible in that ordinariness. So, check yourself: Is greatness experienced in every ordinary act? When you have this experience yourself in this way, you will give this experience to others. Do you do your worldly business just as other people do their business or do you do it as a spiritual person belonging to God? While you walk and move along and come into connection with everyone, let them definitely experience and feel that there is something unique in your eyes and on your face. Even if they are not able to understand it clearly, whilst seeing it, let them at least have the question: What is this? Who are they? The arrow of this question will definitely bring them closer to the Father. Do you understand? You are souls with such elevated fortune. Seeing the innocence of the children, BapDada sometimes smiles. You belong to God but you become so innocent that you even forget your fortune. Anything that others don’t forget, innocent children forget. Do people forget themselves? Does anyone forget the Father? So, you have become so innocent. For 63 births, you have learnt the wrong lesson so firmly that even when God tells you to forget it, you don’t forget it. However, you do forget elevated things which is why you are so innocent. The Father says: This is also in My part in the drama with these innocent ones. You have been innocent for so long. Now, become master knowledge-full and master powerful, like the Father. Do you understand? Achcha.

To those who are constantly elevated and fortunate, to those who give others the power of becoming fortunate through their own fortune, to those who give the experience of greatness in ordinariness, to those who become fortunate from innocent, to those who constantly maintain the intoxication and happiness of the right to fortune, to those who become stars of fortune in the world and constantly sparkle, to such souls who are elevated and fortunate, love, remembrance and namaste from BapDada, the Bestower of Fortune.

BapDada meeting Madhuban resident brothers and sisters:

Madhuban residents means those who constantly make everyone sweet with their own sweetness and, with their attitude of unlimited disinterest, inspire others to have unlimited disinterest. The speciality of Madhuban residents is extreme sweetness and extreme disinterest. Those who keep this balance easily and automatically experience moving forward. The impact of both of these specialities of Madhuban falls on the world. Even though souls may not have knowledge, Madhuban is the lighthouse and might-house from which the light of the lighthouse falls on everyone whether they want it or not. To the extent that there are these vibrations here, accordingly, people will understand when they go back that you are unique. Whether it is due to their problems, circumstances or some lack of attainment, there is definitely an impact made on them through the attitude of temporary disinterest. When you become powerful here, then, there too, one powerful thing or another happens. The wave that exists here falls on people of the world as well on Brahmins. If those who are special instruments have enthusiasm for a short while and then become ordinary, then others would have enthusiasm and then become ordinary there too. So Madhuban is a special stage. On a physical stage, those who give lectures or are stage secretaries would definitely pay attention to the (physical) stage. Or would they think that it is just up to the one who is giving the lecture? There may be someone who is going to sing a short song or even just present a bouquet, but when he or she goes onto the stage, they would go with that speciality and attention. So, no matter what duty you have in Madhuban, whether you consider yourself to be small (junior) or great (senior), you are on the special stage of Madhuban. Madhuban means the great stage. So those who play a part on the great stage would be great, would they not? Everyone sees you in an elevated way because the praise of Madhuban means the praise of the residents of Madhuban.

Every word of the residents of Madhuban is a pearl; they are not words but pearls. It is as though pearls are being showered; you are not speaking but showering pearls. This is called sweetness. Speak such words that those who hear you think: I will also speak like that. Everyone who hears you should receive the inspiration to learn and follow you. Whatever words emerge let them be such that anyone would record them and then listen to them again. People tapesomething because they like it and then listen to it over and over again. Therefore, let your words be of such sweetness. Vibrations of such sweet words automatically spread in the world. This atmosphere automatically pulls those vibrations. So let your every word be great. Let every thought in your mind for every soul be great and sweet. Secondly, to the extent that all treasure-stores are full in Madhuban, to that extent, let there be unlimited disinterest. Let there be deep attainment and just as much of an attitude of disinterest, and it can then be said that you have an attitude of unlimited disinterest. If there is no attainment, how could there be an attitude of disinterest? If there is attainment and you have an attitude of disinterest at the same time, that is called unlimited disinterest. Whatever each of you does, you receive the fruit of that at the present time and you are definitely going to receive that in the future too. At the present time, you receive true love and blessings from everyone’s heart and this attainment is even greater than the fortune of the kingdom of heaven. You can now understand how much each one’s love and blessings make the heart move forward. The happiness that you experience from the blessings of everyone’s heart is unique. You will experience it to be as though someone is holding you in the palms of his hands and making you fly. Everyone’s love and blessings will give you this experience. Achcha.

All of you have had a thought filled with new zeal and enthusiasm for this New Year, have you not? Is there determination in that? Continue to revise any thought you have every day. Just as you continue to make something firm and it becomes very firm inside for you, so, too, do not let go of that thought you had. Revise that thought every day and make it determined and this determination will always be useful. Sometimes, you think about what thought you had created, and sometimes whilst moving along you even forget what thought you had, and then weakness comes. Revise it every day and repeat it in front of the Father every day and it will become firm and you will easily achieve success. The Father knows with how much love everyone sees each of the souls of Madhuban. The importance of the specialities of the residents of Madhuban is no less. If someone carries out even a small special task, then, although that is a task carried out in one place, everyone is inspired. So that soul receives their whole share of the benefit of that speciality. Therefore, when those from Madhuban have elevated thoughts, make plans or perform actions, it creates enthusiasm in everyone to learn. So, how much benefit a soul who creates enthusiasm in everyone would receive! All of you are this important. You do something in one corner and it spreads everywhere. Achcha.

A new plan for this year. This year, create a group so that, when others see the specialities of that group in a practical way, they are inspired and those vibrations spread everywhere. Just as the Government tells you to select a village and demonstrate to them by making a sample through which they can understand that you are doing something in a practical way and this will create an impact on them, so let such a group be created through which others are inspired. If anyone wants to see what virtue is, what power is, what knowledge is or what remembrance is, let the practical form of these be visible to them. If small groups become such practical examples, then those elevated vibrations will automatically spread into the atmosphere. Nowadays, everyone wants to see the practical form; they don’t just want to hear. The impact of something practical reaches them very quickly. So let there be a practical form of such zeal and enthusiasm. Let there be such a group that others are easily able to receive inspirations from them and the inspirations reach everywhere in all directions. This will then continue to spread from one to two to three, etc. This is why you must now create some such speciality. Everyone understands that the special instrument souls are the proof and that they receive inspirations from them. In the same way, create further proof, and then, when they see this, they can all say: Yes, they are able to experience an embodiment of knowledge in a practical way. Fill the atmosphere with these pure and elevated actions and the attitude of pure, elevated thoughts. Demonstrate it by doing something like this. Nowadays, there isn’t as much impact made by serving through words as there is by serving through the mind. When you speak one word and spread vibrations of a hundred words, there is then that impact. Words have become common, but the powerful vibrations that come with the words do not exist anywhere else. They only exist here. Show this speciality. Conferences and youth programmes take place all the time and they have to continue to take place. Zeal and enthusiasm increases with these two, but there is now a need for soul power. This is spreading vibrations through your attitude. This is powerful. Achcha.

Blessing: May you always be victorious by adopting truth through imbibing the power of tolerance.
People of the world say that it is difficult for honest people to live in this world, that they have to tell lies. Many Brahmin souls also think that they sometimes have to conduct themselves with devious cleverness. However, you saw Father Brahma: he had to face so much opposition for truth and purity, but he was not afraid. For truth, you need to have the power of tolerance. You have to tolerate, you have to bow down, you have to accept defeat, but that is not defeat, it is victory for all time.
Slogan: To be happy and to make others happy is to give blessings and receive blessings.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 August 2019

To Read Murli 3 August 2019:- Click Here
04-08-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 09-01-85 मधुबन

श्रेष्ठ भाग्यवान आत्माओं की रूहानी पर्सनैलिटी

आज भाग्यविधाता बाप अपने श्रेष्ठ भाग्यवान बच्चों को देख रहे हैं। हर एक बच्चे के भाग्य की लकीर कितनी श्रेष्ठ और अविनाशी है। भाग्यवान तो सभी बच्चे हैं क्योंकि भाग्यविधाता के बने हैं इसलिए भाग्य तो जन्म-सिद्ध अधिकार है। जन्म-सिद्ध अधिकार के रूप में सभी को स्वत: ही अधिकार प्राप्त है। अधिकार तो सभी को है लेकिन उस अधिकार को स्व प्रति वा औरों के प्रति जीवन में अनुभव करना और कराना उसमें अन्तर है। इस भाग्य के अधिकार को अधिकारी बन उस खुशी और नशे में रहना। और औरों को भी भाग्यविधाता द्वारा भाग्यवान बनाना – यह है अधिकारीपन के नशे में रहना। जैसे स्थूल सम्पत्तिवान की चलन और चेहरे से सम्पति का अल्पकाल का नशा दिखाई देता है, ऐसे भाग्य विधाता द्वारा अविनाशी श्रेष्ठ भाग्य की सम्पत्ति का नशा चलन और चेहरे से स्वत: दिखाई देता है। श्रेष्ठ भाग्य की सम्पत्ति का प्राप्ति स्वरूप अलौकिक और रूहानी है। श्रेष्ठ भाग्य की झलक और रूहानी फलक विश्व में सर्व आत्माओं से श्रेष्ठ न्यारी और प्यारी है। श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा सदा भरपूर, फखुर में रहने वाले अनुभव होंगे। दूर से ही श्रेष्ठ भाग्य के सूर्य की किरणें चमकती हुई अनुभवी होंगी। भाग्यवान के भाग्य की प्रॉपर्टी की पर्सनैलिटी दूर से ही अनुभव होगी। श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा की दृष्टि से सदा सर्व को रूहानी रॉयल्टी अनुभव होगी। विश्व में कितने भी बड़े-बड़े रायॅल्टी वा पर्सनैलिटी वाले हो लेकिन श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा के आगे विनाशी पर्सनैलिटी वाले स्वयं अनुभव करते कि यह रूहानी पर्सनैलिटी अति श्रेष्ठ अनोखी है। ऐसे अनुभव करते कि यह श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मायें न्यारे अलौकिक दुनिया के हैं। अति न्यारे हैं, जिसको अल्लाह लोग कहते हैं। जैसे कोई नई चीज़ होती है तो बड़े स्नेह से देखते ही रह जाते हैं। ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान आत्माओं को देख-देख अति हर्षित होते हैं। श्रेष्ठ भाग्यवान आत्माओं की श्रेष्ठ वृत्ति द्वारा वायुमण्डल ऐसा बनता जो दूसरे भी अनुभव करते कि कुछ प्राप्त हो रहा है अर्थात् प्राप्ति का वातावरण वायुमण्डल अनुभव करते हैं। कुछ पा रहे हैं, मिल रहा है इसी अनुभूति में खो जाते हैं। श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा को देख ऐसा अनुभव करते जैसे प्यासे के आगे कुंआ चलकर आये। अप्राप्त आत्मा प्राप्ति के उम्मीदों का अनुभव करती है। चारों ओर के नाउम्मीदों के अंधकार के बीच शुभ आशा का जगा हुआ दीपक अनुभव करते हैं। दिलशिकस्त आत्मा को दिल के खुशी की अनुभूति होती है। ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान बने हो? अपनी इन रूहानी विशेषताओं को जानते हो? मानते हो? अनुभव करते हो? वा सिर्फ सोचते और सुनते हो? चलते-फिरते इस साधारण रूप में छिपे हुए अमूल्य हीरा श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा को कभी स्वयं भी भूल तो नहीं जाते हो, अपने को साधारण आत्मा तो नहीं समझते हो? तन पुराना है, साधारण है लेकिन आत्मा महान और विशेष है। सारे विश्व के भाग्य की जन्मपत्रियाँ देख लो, आप जैसी श्रेष्ठ भाग्य की लकीर किसी की भी नहीं हो सकती है। कितनी भी धन से सम्पन्न आत्मायें हों, शास्त्रों के आत्म ज्ञान के खजाने से सम्पन्न आत्मायें हों, विज्ञान के नॉलेज की शक्ति से सम्पन्न आत्मा हों लेकिन आप सबके भाग्य की सम्पन्नता के आगे वह क्या लगेंगे? वह स्वयं भी अभी अनुभव करने लगे हैं कि हम बाहर से भरपूर हैं, लेकिन अन्दर खाली है और आप अन्दर भरपूर हैं, बाहर साधारण हैं इसीलिए अपने श्रेष्ठ भाग्य को सदा स्मृति में रखते हुए समर्थपन के रूहानी नशे में रहो। बाहर से भले साधारण दिखाई दो लेकिन साधारणता में महानता दिखाई दे। तो अपने को चेक करो हर कर्म में साधारणता में महानता अनुभव होती है? जब स्वयं, स्वयं को ऐसे अनुभव करेंगे तब दूसरों को भी अनुभव करायेंगे। जैसे और लोग कार्य करते हैं ऐसे ही आप भी लौकिक कार्य व्यवहार ही करते हो वा अलौकिक अल्लाह लोग होकर कार्य करते हो? चलते फिरते सभी के सम्पर्क में आते यह जरूर अनुभव कराओ जो समझें कि इन्हों की दृष्टि में, चेहरे में न्यारा पन है। और देखते हुए स्पष्ट समझ में न भी आये लेकिन यह क्वेश्चन जरूर उठे कि यह क्या है? यह कौन है? यह क्वेश्चन रूपी तीर बाप के समीप ले ही आयेगा। समझा। ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मायें हो। बापदादा कभी-कभी बच्चों के भोलेपन को देख मुस्कराते हैं। भगवान के बने हैं लेकिन इतने भोले बन जाते हैं जो अपने भाग्य को भी भूल जाते हैं। जो बात कोई नहीं भूलता, वह भोले बच्चे भूल जाते हैं, अपने आपको कोई भूलता है? बाप को कोई भूलता है? तो कितने भोले हो गये! 63 जन्म उल्टा पाठ इतना पक्का किया जो भगवान भी कहते कि भूल जाओ तो भी नहीं भूलते और श्रेष्ठ बात भूल जाते हैं। तो कितने भोले हो! बाप भी कहते ड्रामा में इन भोलों से ही मेरा पार्ट है। बहुत समय भोले बने, अब बाप समान मास्टर नॉलेजफुल, मास्टर पावरफुल बनो। समझा। अच्छा !

सदा श्रेष्ठ भाग्यवान, सर्व को अपने श्रेष्ठ भाग्य द्वारा भाग्यवान बनने की शक्ति देने वाले, साधारणता में महानता अनुभव कराने वाले, भोले से भाग्यवान बनने वाले, सदा भाग्य के अधिकार के नशे में और खुशी में रहने वाले, विश्व में भाग्य का सितारा बन चमकने वाले, ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान आत्माओं को भाग्यविधाता बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।”

मधुबन निवासी भाई बहनों से:- मधुबन निवासी अर्थात् सदा अपने मधुरता से सर्व को मधुर बनाने वाले और सदा अपने बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा बेहद का वैराग्य दिलाने वाले। यही मधुबन निवासियों की विशेषता है। मधुरता भी अति और वैराग्य वृत्ति भी अति। ऐसे बैलेन्स रखने वाले सदा ही सहज और स्वत: आगे बढ़ने का अनुभव करते हैं। मधुबन की इन दोनों विशेषताओं का प्रभाव विश्व में पड़ता है। चाहे अज्ञानी आत्मायें भी हैं लेकिन मधुबन लाइट हाउस, माइट हाउस है। तो लाइट हाउस की रोशनी कोई चाहे न चाहे लेकिन सबके ऊपर पड़ती है। जितना यहाँ का यह वायब्रेशन होता है उतना वहाँ समझते हैं कि यह कुछ न्यारे हैं। चाहे समस्याओं के कारण, चाहे सरकमस्टांस के कारण, चाहे अप्राप्ति के कारण, लेकिन अल्पकाल की भी वैराग्य वृत्ति का प्रभाव जरूर पड़ता है। जब आप यहाँ शक्तिशाली बनते हो तो वहाँ भी शक्तिशाली कोई न कोई विशेष बात होती है। यहाँ की लहर ब्राह्मणों के साथ-साथ दुनिया वालों पर भी पड़ती है। अगर विशेष निमित्त बने हुए थोड़ा उमंग में आते और फिर साधारण हो जाते तो वहाँ भी उमंग में आते फिर साधारण हो जाते हैं। तो मधुबन एक विशेष स्टेज है। जैसे उस स्टेज पर कोई भाषण करने वाला है या स्टेज पोट्री है, अटेन्शन तो स्टेज का रखेगा ना, या समझेगा यह तो भाषण करने वाले के लिए है। कोई छोटा सा गीत गाने वाला या गुलदस्ता देने वाला भी होगा तो भी जिस समय वह स्टेज पर आयेगा तो उसी विशेषता से, अटेन्शन से आयेगा। तो मधुबन में किस भी ड्युटी पर रहते हो, अपने को छोटा समझो या बड़ा समझो लेकिन मधुबन की विशेष स्टेज पर हो। मधुबन माना महान स्टेज। तो महान स्टेज पर पार्ट बजाने वाले महान हुए ना। सभी आपको ऊंची नजर से देखते हैं ना क्योंकि मधुबन की महिमा अर्थात् मधुबन निवासियों की महिमा।

तो मधुबन वालों का हर बोल मोती है। बोल नहीं हो लेकिन मोती हो। जैसे मोतियों की वर्षा हो रही है, बोल नहीं रहे हैं, मोतियों की वर्षा हो रही है। इसको कहा जाता है मधुरता। ऐसा बोल बोलें जो सुनने वाले सोचें कि ऐसा बोल हम भी बोलेंगे। सबको सुनकर सीखने की प्रेरणा मिले, फालो करने की प्रेरणा मिले। जो भी बोल निकलें वह ऐसे हों जो कोई टेप करके फिर रिपीट करके सुने। अच्छी बात लगती है तब तो टेप करते हैं ना – बार-बार सुनते रहें। तो ऐसे मधुरता के बोल हो। ऐसे मधुर बोल का वायब्रेशन विश्व में स्वत: फैलता है। यह वायुमण्डल वायब्रेशन को स्वत: ही खींचता है। तो आपका हर बोल महान हो। हर मंसा संकल्प हर आत्मा के प्रति मधुर हो, महान हो। और दूसरी बात – मधुबन में जितने भण्डारे भरपूर हैं उतने बेहद के वैरागी। प्राप्ति भी अति और वैराग्य वृत्ति भी उतनी ही, तब कहेंगे बेहद की वैराग्य वृत्ति है। हो ही नहीं तो वैराग्य वृत्ति कैसी। हो और होते हुए भी वैराग वृत्ति हो इसको कहा जाता है बेहद के वैरागी। तो जितना जो करता है उतना वर्तमान भी फल पाता है और भविष्य में तो मिलना ही है। वर्तमान में सच्चा स्नेह वा सबके दिल की आशीर्वादें अभी प्राप्त होती हैं और यह प्राप्ति स्वर्ग के राज्य भाग्य से भी ज्यादा है। अभी मालूम पड़ता है कि सबका स्नेह और आशीर्वाद दिल को कितनी आगे बढ़ाती है। तो वह सबके दिल की आशीर्वाद की खुशी और सुख की अनुभूति एक विचित्र है। ऐसे अनुभव करेंगे जैसे कोई सहज हाथों पर उड़ाते हुए लिए जा रहा है। यह सर्व का स्नेह और सर्व की आशीर्वादें इतना अनुभव कराने वाली हैं। अच्छा !

इस नये वर्ष में सभी ने नया उमंग उत्साह भरा संकल्प किया है ना। उसमें दृढ़ता है ना! अगर कोई भी संकल्प को रोज़ रिवाइज करते रहो तो जैसे कोई भी चीज पक्की करते जाओ तो पक्की हो जाती। तो जो संकल्प किया उसे छोड़ नहीं दो। रोज़ उस संकल्प को रिवाइज कर दृढ़ करो तो फिर यही दृढ़ता सदा कार्य में आयेगी। कभी-कभी सोच लिया क्या संकल्प किया था, या चलते-चलते संकल्प भी भूल जाए क्या किया था तो कमजोरी आती है। रोज़ रिवाइज करो और रोज बाप के आगे रिपीट करो तो पक्का होता जायेगा और सफलता भी सहज मिलेगी। सभी जिस स्नेह से मधुबन में एक एक आत्मा को देखते हैं वह बाप जानते हैं। मधुबन निवासी आत्माओं की विशेषताओं का कम महत्व नहीं है। अगर कोई एक छोटा सा विशेष कार्य भी करते हैं तो एक स्थान पर वह कार्य होता है और सभी को प्रेरणा मिलती है, तो वह सारा विशेषता के फायदे का हिस्सा उस आत्मा को मिल जाता है। तो मधुबन वाले कोई भी श्रेष्ठ संकल्प करते हैं, प्लैन बनाते हैं, कर्म करते हैं वह सभी को सीखने का उत्साह होता है। तो सभी के उत्साह बढ़ाने वाली आत्मा को कितना फायदा होगा। इतना महत्व है आप सबका। एक कोने में करते हो और फैलता सभी जगह है। अच्छा!

इस वर्ष के लिए नया प्लैन

इस वर्ष ऐसा कोई ग्रुप बनाओ जिस ग्रुप की विशेषताओं को प्रैक्टिकल में देखकर दूसरों को प्रेरणा मिले और वायब्रेशन फैले। जैसे गवर्मेन्ट भी कहती है कि आप कोई ऐसा स्थान लेकर एक गाँव को उठा करके ऐसा सैम्पुल दिखाओ जिससे समझ में आये कि आप प्रैक्टिकल कर रहे हैं तो उसका प्रभाव फैलेगा। ऐसे ही कोई ग्रुप बने जिससे दूसरों को प्रेरणा मिले। कोई भी अगर देखना चाहे गुण क्या होता है, शक्ति क्या होती है, ज्ञान क्या होता है, याद क्या होती है तो उसे प्रैक्टिकल स्वरूप दिखाई दे। ऐसे अगर छोटे-छोटे ग्रुप प्रैक्टिकल प्रमाण बन जाएं तो वह श्रेष्ठ वायब्रेशन वायुमण्डल में स्वत: ही फैलेगा। आजकल सभी लोग प्रैक्टिकल देखने चाहते हैं, सुनने नही चाहते हैं। प्रैक्टिकल का प्रभाव बहुत जल्दी पहुँचता है। तो ऐसा कोई तीव्र उमंग उत्साह का प्रैक्टिकल रूप हो, ग्रुप हो जिसको सहज सभी देख करके प्रेरणा लें और चारों तरफ यह प्रेरणा पहुँच जाए। तो एक से दो, दो से तीन ऐसे फैलता जायेगा इसलिए ऐसी कोई विशेषता करके दिखाओ। जैसे विशेष निमित्त बनी हुई आत्माओं के प्रति सभी समझते हैं कि यह प्रूफ है और प्रेरणा मिलती है। ऐसे और भी प्रूफ बनाओ। जिसको देखकर सब कहें कि हाँ प्रैक्टिकल ज्ञान का स्वरूप अनुभव हो रहा है। इस शुभ श्रेष्ठ कर्म, श्रेष्ठ संकल्प की वृत्ति से वायुमण्डल बनाओ। ऐसा कुछ करके दिखाओ। आजकल मंसा का प्रभाव जितना पड़ता है, उतना वाणी का नहीं पड़ता। वाणी एक शब्द बोलो और वायब्रेशन 100 शब्दों का फैलाओ तभी असर होता है। शब्द तो कामन हो गये हैं ना लेकिन शब्द के साथ जो वायब्रेशन शक्तिशाली हैं वह और कहाँ नहीं होता है, यह यहाँ ही होता है। यह विशेषता करके दिखाओ। बाकी तो कान्फ्रेन्स करेंगे, यूथ का प्रोग्राम करेंगे यह तो होते रहेंगे और होने भी हैं। इससे भी उमंग-उत्साह बढ़ता है लेकिन अभी आत्मिक शक्ति की आवश्यकता है। यह है वृत्ति से वायब्रेशन फैलाना। वह शक्तिशाली है। अच्छा!

वरदान:- सहनशक्ति की धारणा द्वारा सत्यता को अपनाने वाले सदा के विजयी भव 
दुनिया वाले कहते हैं कि आजकल सच्चे लोगों का चलना ही मुश्किल है, झूठ बोलना ही पड़ेगा, कई ब्राह्मण आत्मायें भी समझती हैं कि कहाँ-कहाँ चतुराई से तो चलना ही पड़ता है, लेकिन ब्रह्मा बाप को देखा सत्यता व पवित्रता के लिए कितनी आपोजीशन हुई फिर भी घबराये नहीं। सत्यता के लिए सहनशक्ति की आवश्यकता होती है। सहन करना पड़ता है, झुकना पड़ता है, हार माननी पड़ती है लेकिन वह हार नहीं है, सदा की विजय है।
स्लोगन:- प्रसन्न रहना और प्रसन्न करना – यह है दुआयें देना और दुआयें लेना।

TODAY MURLI 4 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 August 2018 :- Click Here

04/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you do not have to say anything through your lips; just constantly remember the one Father with a true heart. The Lord is pleased with those who have honest hearts.
Question: Which manners are the best? Which divine manners do you have to imbibe?
Answer: The best manners are to remain constantly cheerful. Deities always remain cheerful; they never laugh loudly. To laugh loudly is also a vice. You children should remain in the incognito happiness of remembrance. The sanskar of familiarity also causes a great deal of damage. In order to be successful in service, you need to have an attitude that is free from attraction. There should not be the slightest odour of being trapped by anyone’s name or form. You need to have a very clean intellect. Your face remains cheerful when you have imbibed these things and you do service and make others similar to yourself.
Song: Neither will He be separated from us, nor will we experience sorrow.

Om shanti. You children understand, numberwise, according to your efforts. It is said that the Lord is pleased with those with honest hearts. The heart too is within the soul, is not? Therefore, remember the true Lord and you will receive happiness. Remembrance means to remember the Father internally. Chant the name of the Lord. To chant does not mean that you have to continue to say something; no. Just continue to have remembrance and you will receive a great deal of happiness. You also have to make others similar to yourself. It is very easy to explain to others. Just as a truly faithful wife does not love anyone except her husband, in the same way, you souls have to remember the unlimited Father from beyond with honest hearts. It is just as a lover and beloved love each other. They are attracted to each other’s name and form; it is not a question of vice. The lover remembers the beloved and the beloved remembers the lover, that’s all! Their intellects are not drawn anywhere else. Even though they are engaged in their business etc., their hearts are connected to each other. That is pure remembrance. Their bodies and intellects do not become impure. Such souls are also praised, but there are very few of them. Even in this knowledge, there are very few such true lovers. Maya is such that she gets hold of you by the nose. The example of Angad has been given. Ravan said: See if he can be shaken or not. Maya tries to make the powerful maharathis fall. Just as a mouse blows on you and then bites you in such a way that you don’t even feel it, in the same way, Maya is so powerful that if anyone behaves badly and unlawfully, then she locks that one’s intellect in an incognito way. You need a deep intellect to understand these things. You need to practise remembering Baba a great deal. There has to be full love for the Father. You have to do servicewithout becoming attracted. No matter how good some child may be, you mustn’t become trapped in his name or form. This causes a great deal of damage. The Father says: Consider yourself to be a bodiless soul and remember Me. Keep yourself very clean and pure. You belong to Shiv Baba and He is making you clean and pure. You have to remove the vices from within you. Your very name is Shiv Shaktis; you receive power from the Almighty Authority. Therefore, you have to have very good yoga with Him. The Father says: To have constant remembrance is not like going to your aunty’s home! So much effort is made to stay in remembrance at the time of eating, yet He is still forgotten. While eating, a great deal of effort is made to remember the Father the whole time. As He is our Beloved, why should we not eat in remembrance of Him? He would then remain with us. However, remembrance is still forgotten again and again. Even on the path of devotion, the intellect continues to wander in different directions. These are aspects of knowledge. Some children are also not able to understand these aspects properly and are still crawling on the floor. If your yoga were to be constant, it would be understood that your karmateet stage is coming close. However, remembrance doesn’t remain, and so a great battle takes place within. Baba sees that there are many whose intellects wander. It takes effort for them to become bodiless. There are very few who speak the truth; they are ashamed to speak the truth. Maya is very powerful. She doesn’t take long to scalp you. You shouldn’t say: “We are His children anyway.” You have also been shown methods. Firstly you have to reach the karmateet stage and then a status is received, numberwise. Baba knows that Maya harasses the children a great deal. She doesn’t allow remembrance to remain. It has been observed from the stages of many that they become trapped in someone’s name and form. You have to practise considering yourselves to be bodiless, because for a very long time you have not considered yourself to be bodiless. In the golden age, you will have the full knowledge that you are a soul and that you have to shed your old costume and take a new one. You also receive a vision at that time. Whether you have a vision (in a practical way) or invisibly (just through feelings), you will understand that the lifespan of that body is about to end. When someone is about to die, he says: I feel that I am about to die; I am unable to live any longer. There, when your body has become old, you will understand that you have to shed it. They shed their bodies happily when it is their time. They have full knowledge of the soul but they don’t have the slightest knowledge of the Father because that is not in the drama. Why should you remember the Father there? There would be no need. Here, human beings remember Him in sorrow whereas you have to consider yourself to be a soul and have yoga with the Father. This body is old. You should have total dislike for it. No matter how beautiful someone’s body may be, everyone is ugly because, according to the law, every soul has become ugly. This is something for the intellect to understand. Therefore, the Father explains: Let your intellects’ yoga be connected to the One. Just as people have love marriages, so this is also a love marriage for you souls. Then there is no love for this body. If there isn’t love for your own body, why should there be love for the bodies of others? Everything in the world functions on the basis of beauty. Some couples get engaged without seeing each other; then, when they do see each other, they don’t like each other and there is quarrelling and fighting: “What would I do with money? I want someone beautiful!” You understand that you are souls. You should have no attachment to your old bodies. All of those relationships are vicious. Your things are different from those of the people of the world outside. You ugly souls have now become engaged to the beautiful Traveller. You understand that every soul in this world has become totally ugly. Make the soul beautiful by forging a connection with the Beautiful One. The one Traveller makes multi-millions beautiful. Very good yoga is needed in order for ugly souls to be made beautiful. If you remain ugly, you will firstly have to experience punishment and secondly, your status will be destroyed. Here, you must not get caught up in the name or form of anyone. A great deal of disservice takes place when that happens. This is why Baba explains: Remain cautious. You get caught up in the web of Maya and yet you don’t even understand. That destiny will not leave you. You destroy your own status. The Father says: With the power of yoga, you have to make your souls pure. This is a furnace (bhatthi). Have yoga with the Father. However, if your intellects wander elsewhere your remembrance becomes adulterated. Then, neither will you be able to do service nor will you claim a high status. Alloy can only be removed with the fire of yoga. If you have yoga, knowledge will also remain in your intellects. Baba is Rup (the Embodiment of Yoga) and also Basant (the One who showers knowledge). The more rup (the embodiment of yoga) you children become, the more you will be able to imbibe knowledge. Firstly, souls have to be made pure. You continue to speak of yoga, but, even among you, there are many who don’t understand the meaning of yoga. You cannot purify yourselves or Bharat without yoga. Even though you do service and open centres, Maya catches hold of you by your nose. Some become arrogant and say that they have opened this many centres ; they become body conscious. The Father explains: Consider yourselves to be souls and have yoga with the Father. No sinful action should take place. If you forget Baba and then become trapped in someone’s name or form, a great deal of damage is caused. The destination is very high. It’s not a small thing to become a master of the world! The Father is praised a great deal. Many temples are built in His name. You know who built the Somnath Temple and when he built it. Temples too are built numberwise. After the Somnath Temple was built, the Lakshmi and Narayan Temple was built, and then the Jagadamba Temple. Human beings don’t know who created the temple to Somnath. God is the Incorporeal. Although worshippers of the Incorporeal worship incorporeal Shiva, they don’t understand anything. You children are also numberwise. Day and night, you should be concerned about service. Only when you stop being body conscious and become soul conscious will you have this concern. Have full yoga with the Father. To have total regardfor Him is not like going to your aunty’s home! The evil spirit of Maya breaks your yoga. Only the Father knows these things. There are some who are so sensitive that if they are told anything they become upset and quickly become traitors. They then destroy their own fortune. When they come to Baba, they become amazed, they belong to Him and then run away and begin to do disservice. It is also mentioned in the Bhagawad that while drinking nectar, some became traitors and caused harm. The Father has great concern that so-and-so is weak and can become a traitor at any time and cause harm. It has been seen how some become traitors and create a lot of harm and then innocent ones are beaten a great deal. Are there assaults in other spiritual gatherings? Here, the first aspect is of renouncing poison. Some don’t renounce it at all. People say that so-and-so has left for the heavenly abode, but no one knows what heaven is. It is as though they just speak without knowing the meaning of what they say. You have now received so much understanding. The Father knows who the good flowers are. There are some who don’t have any odour of being trapped in anyone’s name or form. They have no other interest apart from knowledge. You also need to have accurate yoga. Although some are already ugly, they become even more ugly. Within this army, there is an army of elephants, lions and lionesses and also horses and mares. There is a flock of sheep as well; there are all types. It is understood from the activity of some that they are goats; they don’t understand anything; nothing sits in their intellects. Their intellects are like the intellect of a buffalo. Baba explains in such an easy way that you are souls. Are you not able to remember the unlimited Father? O souls, remove your intellects’ yoga from everywhere else and remember Me. Are you not able to remember Me? You remember your friends and relatives etc., so what’s so difficult about remembering Me? Some say: Baba, Maya breaks my intellect’s yoga. But you will lose your inheritance! If your intellects’ yoga is forged completely, you will become the masters of the world. How can the Father ever be forgotten? It is only when you become body conscious that you forget Him. You are repeatedly told to consider yourselves to be souls and to remember the Father constantly. You don’t have to chant. You don’t need to make a sound. You have to go beyond sound. You come into body consciousness when you say “Rama, Rama” through your mouth. Remember the Father internally. You simply have to take the support of your organs and remember that you are souls. Remain in silence and remember the Father. Baba is the Ocean of Knowledge; He is knowledge-full. He has full knowledge and He also teaches you. By remembering the Father, you will become pure and will receive a holy crown (halo) and by knowing the cycle of the world you will receive a crown studded with jewels. You will become those with double crowns. It is by having remembrance that your sins will be absolved. Otherwise, you will be punished by Dharamraj and your status will be destroyed. Therefore, remember the Father. Your happiness has to be incognito. You should not laugh loudly. Lakshmi and Narayan are called cheerful. To be cheerful and to laugh are two different things. There is incognito happiness in remaining cheerful. It is bad to laugh loudly. It’s best to remain cheerful. To laugh loudly is also a form of vice and that vice too should not remain. Happiness should be visible on your faces. That will be visible when you make others similar to yourselves. Do service and more service. As soon as you are given service to do, you should run; nothing else. You children do service in order to transform thorns into buds. Baba continues to give you children very good points. You have to have the faith that it is Baba who is saying these things. This one also says: Don’t praise me; all the praise belongs to Shiv Baba. By remembering Him, you will become complete conquerors of sin. It is a very easy thing. Remember Baba and spin the discus of self-realisation. It is at the end that you become complete spinners of the discus of self-realisation, numberwise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Create a method to keep the Father with you. Stay in remembrance at meal times. Practise becoming bodiless! Do not love your old body.
  2. Have total regard for the Father. Don’t be arrogant! Always stay far away from the sickness of becoming trapped in someone’s name or form. Stay intoxicated with knowledge and yoga.
Blessing: May you be a world transformer who comes into contact and relationship with others while wearing the glasses of seeing their specialities.
While coming into connection or relationship with one another, see one another’s specialities. Adopt the vision of only seeing other’s specialities. Nowadays, it is the fashion and also compulsion to wear glasses. So, wear the glasses of seeing specialities, so that you cannot see anything else. When you wear red glasses, even green things will be visible as red. So, wear the glasses of speciality and do not see rubbish, but only see the lotus and you will become an instrument for world transformation.
Slogan: Constantly stay away from the dust of thinking of others and seeing others and you will become a flawless, invaluable diamond.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 August 2018

To Read Murli 3 August 2018 :- Click Here
04-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें मुख से कुछ भी बोलना नहीं है, सच्चे दिल से एक बाप को निरन्तर याद करना है, सच्चे दिल पर ही साहेब राज़ी है”
प्रश्नः- सबसे अच्छा मैनर (चरित्र) कौन सा है? किस देवताई मैनर्स को तुम्हें धारण करना है?
उत्तर:- सदा हर्षित रहना बहुत अच्छा मैनर है। देवतायें सदा हर्षित रहते हैं, खिलखिलाकर हंसते नहीं। आवाज से हंसना भी एक विकार है। तुम बच्चों को याद की गुप्त खुशी रहनी चाहिए। फैमिलियरटी का संस्कार भी बहुत नुकसानकारक है। सर्विस की सफलता के लिए अनासक्त वृत्ति चाहिए। नाम-रूप की बदबू जरा भी न हो। बुद्धि बहुत स्वच्छ चाहिए। इसी धारणा से जब सर्विस करते, दूसरों को आप समान बनाते तो चेहरा हर्षित रहता है।
गीत:- न वह हमसे जुदा होंगे…… 

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार क्योंकि कहा जाता हैं सच्ची दिल पर साहेब राज़ी। दिल भी आत्मा में है ना। तो सच्चे साहेब को याद करो तो सुख मिलेगा। याद माना अन्दर में बाप को याद करना है। जप साहेब को। जप का अर्थ यह नहीं कि मुख से कुछ बोलते रहो। नहीं, याद करते रहो तो बहुत सुख मिलेगा। औरों को भी आप समान बनाना है। किसको समझाना भी बड़ा सहज है। जैसे सच्ची पतिव्रता स्त्री सिवाए पति के और किसको भी लॅव नहीं करती है, वैसे ही आत्मा को उस पारलौकिक बेहद के बाप को सच्ची दिल से याद करना है। जैसे आशिक-माशूक का प्यार होता है। वह नाम-रूप पर मरते हैं, विकार की कोई बात नहीं रहती। आशिक माशूक को, माशुक आशिक को याद करते हैं। बस, और कहाँ बुद्धि नहीं जाती। भल धन्धाधोरी भी करते हैं परन्तु दिल एक के साथ रहती है। वह पवित्र याद होती है। शरीर और बुद्धि अपवित्र नहीं रहती। उसका भी गायन है, परन्तु ऐसे बहुत थोड़े हैं। इस ज्ञान में भी सच्चे आशिक बहुत थोड़े हैं। माया ऐसी है जो नाक से पकड़ लेती है। दृष्टान्त दिया हुआ है अंगद का। रावण ने कहा – देखें, यह हिलता है वा नहीं? जो तीखे-तीखे महारथी हैं उनको ही माया पछाड़ती है। जैसे चूहा काटता है, फूँक ऐसी देता है जो पता भी नहीं पड़ता है। ऐसे माया भी बड़ी जबरदस्त है। जो कोई बेकायदे चलन चलते हैं तो अन्दर से ही बुद्धि को गुप्त ताला लगा देती है। इसमें समझने की बड़ी बुद्धि चाहिए। बाबा को याद करने का बड़ा अभ्यास चाहिए। बाप में पूरा-पूरा लॅव चाहिए।

तुमको सर्विस करनी है अनासक्त होकर। भल कोई कितना अच्छा बच्चा है परन्तु ऐसे नहीं कि उनके नाम-रूप में फँस पड़ना है, इससे बड़ा नुकसान कर देते हैं। बाप कहते हैं अपने को अशरीरी आत्मा समझकर मुझे याद करो। अपने को स्वच्छ रखो। तुम शिवबाबा के बनते हो, वह तुमको स्वच्छ बनाते हैं। विकारों को निकाल देना है। तुम्हारा नाम ही है शिव शक्तियां। तुमको सर्वशक्तिमान से शक्ति मिलती है, तो अच्छी तरह उनसे योग लगाना पड़े। बाप कहते हैं निरन्तर याद करना मासी का घर नहीं है। भोजन करते समय कितनी कोशिश करते हैं फिर भी भूल जाते हैं। बहुत कोशिश करते हैं – सारा समय बाप की याद में खायें क्योंकि वह हमारा बहुत प्यारा है, क्यों न हम उनको याद कर खायें तो साथ में रहेगा। फिर भी घड़ी-घड़ी याद भूल जाती है। भक्ति मार्ग में भी बुद्धि और-और तरफ भटकती रहती है। यह तो है ज्ञान की बात। इन बातों को बच्चे भी पूरा नहीं समझते हैं। कई बच्चे अजुन रेगड़ी पहनते रहते हैं। अगर निरन्तर योग लग जाए तो समझा जाए कि अब कर्मातीत अवस्था आ रही है। परन्तु याद ठहरती नहीं है, बड़ी युद्ध चलती है। बाबा देखते हैं बहुतों का बुद्धियोग भटकता है, अशरीरी बनने में मेहनत लगती है। बहुत थोड़े हैं जो सच बोलते हैं। कहने में लज्जा आती है। माया बड़ी दुश्तर है। एकदम माथा मूड़ लेने में देरी नहीं करती है। ऐसे नहीं, हम तो बच्चे हैं ही। युक्तियाँ भी बतलाई जाती हैं। पहले तो कर्मातीत अवस्था में जाना है फिर है नम्बरवार पद। बाबा जानते हैं – बच्चों को माया बड़ा हैरान करती है, याद ठहरने नहीं देती है। बहुतों की अवस्था देखी जाती है। नाम-रूप में फँस पड़ते हैं। अपने को अशरीरी समझने का अभ्यास करना है क्योंकि बहुत समय से अपने को अशरीरी नहीं समझा है। सतयुग में यह ज्ञान पूरा रहता है कि मैं आत्मा हूँ, मुझे यह पुराना शरीर छोड़ नया लेना है। साक्षात्कार भी हो जाता है। परोक्ष, चाहे अपरोक्ष, समझते हैं – अभी शरीर की आयु पूरी आकर हुई है। जैसे कोई मरने पर होता है तो कहते हैं हमको ऐसा लगता है कि अब मरुँगा, रह नहीं सकूँगा। वहाँ फिर समझते हैं अब शरीर बड़ा हो गया है, इसको अब छोड़ना है। अपने टाइम पर खुशी से छोड़ देते हैं। आत्मा का ज्ञान पूरा है। बाप का ज्ञान बिल्कुल नहीं है। ड्रामा में है नहीं। वहाँ बाप को क्यों याद करें? दरकार ही नहीं। यहाँ तो दु:ख में मनुष्य याद करते हैं और तुमको फिर अपने को आत्मा समझ बाप से योग लगाना है। यह शरीर तो पुराना है। इससे तो बिल्कुल ऩफरत आनी चाहिए। भल कितना भी खूबसूरत, सुहाना (सुन्दर) शरीर हो, लेकिन लामुज़ीब तो सब काले हैं क्योंकि आत्मा काली है। यह बुद्धि से समझने की बात है। शरीर कोई सबके काले तो नहीं होते हैं। यह तो हवा पानी पर होता है। जहाँ ठण्ड जास्ती होती है वहाँ सफेद मनुष्य होते हैं। तो बाप समझाते हैं – बुद्धि का योग एक से लगाना है। जैसे लॅव-मैरेज करते हैं ना। यह भी तुम्हारी आत्मा की लॅव-मैरेज है। फिर इस देह के साथ भी लॅव नहीं रहता है। अपनी देह से ही लॅव नहीं तो फिर औरों की देह से क्या लॅव रखना है। दुनिया में तो काले और गोरे शक्ल पर भी चलता है। कोई-कोई बिगर देखे सगाई कर लेते हैं फिर जब शक्ल देखते हैं तो कहते हैं हमको ऐसी काली नहीं चाहिए। फिर झगड़ा हो जाता है – हम पैसे को क्या करें, हमें तो सुन्दर चाहिए।

अब तुम जानते हो – हम आत्मा हैं। इस पुराने शरीर से मोह नहीं रखना है। यह तो विकारी संबंध हैं ना। दुनियावी बातों से अपनी बात न्यारी है। अभी तुम्हारी काली आत्मा की सगाई हुई है गोरे मुसाफिर से। जानते हो इस दुनिया में सबकी आत्मा काली ही काली है। गोरे से संबंध जोड़ आत्मा को गोरा बनाना है। एक मुसाफिर सैकड़ों-हजारों को हसीन बनाते हैं। काली आत्मा को गोरा बनाना है। इसमें बड़ा अच्छा योग चाहिए। काला रह जाने से एक तो सज़ा खानी पड़ेगी और पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। यहाँ किसके नाम-रूप में नहीं लटकना है। बड़ी डिस-सर्विस हो पड़ती है इसलिए बाबा समझाते हैं – ख़बरदार रहो, तुम माया की चकरी में आ गये हो, परन्तु समझते नहीं। भावी छोड़ती नहीं। अपना पद भ्रष्ट कर देते हैं। बाप कहते हैं – योग अग्नि से अपनी आत्मा को पवित्र बनाना है। यह है भट्ठी। बाप के साथ योग लगाना है। और तरफ बुद्धि जाती है तो व्यभिचारी ठहरा। सर्विस कर न सके। पद भी पा नहीं सकेंगे। योग अग्नि से ही खाद निकल सकेगी। योग है तो ज्ञान भी ठहरेगा।

बाबा रूप भी है, बसन्त भी है। तुम बच्चे भी जितना रूप बनते जायेंगे उतना ज्ञान की धारणा होगी। पहले आत्मा को पवित्र बनाना है। योग-योग कहते हैं परन्तु तुम्हारे में भी कई योग का अर्थ नहीं समझते। योग के बिना अपने को अथवा भारत को पवित्र बना नहीं सकेंगे। भल सर्विस भी करते हैं, सेन्टर खोलते हैं परन्तु माया नाक से एकदम पकड़ लेती है। अंहकार आ जाता है – हमने इतने सेन्टर खोले हैं। देह-अभिमान आ जाता है। बाप तो समझाते हैं अपने को आत्मा समझ योग लगाओ बाप से। कोई भी विकर्म न बन जाए। अगर बाबा को भूल कोई के नाम-रूप में फँसते हो तो बड़ा नुकसान हो जाता है। यह बड़ी मंज़िल है। विश्व का मालिक बनना कम बात है क्या! बाप की कितनी महिमा है! कितने मन्दिर बनाते हैं – उनके नाम पर! तुम जानते हो सोमनाथ का मन्दिर किसने और कब बनाया। मन्दिर भी नम्बरवार बनते हैं। सोमनाथ के बाद फिर है लक्ष्मी-नारायण का अथवा जगदम्बा का मन्दिर। मनुष्य थोड़ेही जानते हैं कि सोमनाथ का मन्दिर किसने बनाया? वह तो निराकार है। निराकार के पुजारी निराकार शिव को ही पूजेंगे। परन्तु जानते नहीं। तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं। रात-दिन सर्विस का ही ओना रहता है। ओना पूरा तब रहे जब देह-अभिमान टूटे। देही-अभिमानी बनना है। बाप के साथ पूरा योग लगाना है। उनका पूरा रिगॉर्ड रखना मासी का घर नहीं है। माया के भूत योग तुड़वा देते हैं। यह तो बाप ही जानते हैं। कितने तो ऐसे नाज़ुक हैं, जो कुछ कहो तो झट ट्रेटर बन बिगड़ पड़ते हैं। वह फिर अपना ही खाना खराब कर देते हैं। आश्चर्यवत् बाबा का बनन्ती, फिर भागन्ती हो जाते हैं। डिससर्विस करने लग जाते हैं। भागवत में भी मशहूर है – अमृत पीते-पीते ट्रेटर बन फिर सताते हैं। बाप को कितना ख्याल रहता है – यह फलाना कच्चा है, कोई भी समय ट्रेटर बन नुकसान कर सकता है। बरोबर देखते हैं ट्रेटर बन नुकसान करने लग पड़ते हैं फिर कितनी अबलाओं पर अत्याचार होते हैं। और सतसंगों में अत्याचार होते हैं क्या? यहाँ पहली बात है विष (विकार) छोड़ने की। विष छोड़ते नहीं हैं।

कहते भी हैं फलाना स्वर्ग पधारा। परन्तु हेविन क्या है, कुछ जानते नहीं हैं। जैसे बिगर अर्थ कोई बोल दे ऐसे ही कह देते हैं। अब कितनी समझ आई है। बाप जानते हैं कौन अच्छे-अच्छे फूल हैं। कोई हैं जिनमें नाम-रूप में फँसने की बदबू नहीं है। ज्ञान के बिगर और कोई बात नहीं। योग भी पूरा चाहिए। कोई काले तो पहले से ही हैं फिर और ही काले होते जाते हैं। इस लश्कर में हाथियों का भी लश्कर है, शेर शेरनियों का भी लश्कर है, घोड़े-घोड़ियों का भी है, बकरे-बकरियों का भी है। सब हैं। चलन से झट मालूम पड़ जाता है – यह तो जैसे रिढ़ (भेड़) हैं। कुछ भी नहीं समझते, बुद्धि में बैठता ही नहीं। जैसे भैंस बुद्धि हैं। बाप कितना सहज करके बतलाते हैं – तुम आत्मा हो। तुम बेहद के बाप को याद नहीं कर सकते हो? हे आत्मा, तुम और सब तरफ से बुद्धियोग हटाकर मुझे याद करो। तुम याद नहीं कर सकते हो? और मित्र-सम्बन्धियों आदि को याद करते हो, मुझे याद करने में क्या मुसीबत है? कहते हैं – बाबा, माया बुद्धियोग तोड़ देती है! अरे, वर्सा गँवा बैठोगे। तुम बुद्धियोग पूरा लगाओ तो विश्व का मालिक बनोगे। बाप को थोड़ेही कभी भूलना होता है। देह-अभिमानी बनने से ही तुम भूलते हो। तुमको बार-बार कहा जाता है अपने को आत्मा समझो, बाप को निरन्तर याद करो। जपो नहीं, आवाज नहीं करो। तुमको तो वाणी से परे जाना है। राम-राम मुख से कहा तो देह-अभिमान आ गया। अन्दर सिमरण करना है। आरगन्स का सिर्फ आधार लेना है। मैं आत्मा हूँ, शान्ति में रहकर बाप को याद करना है। बाबा है ज्ञान का सागर, नॉलेजफुल। उनमें सारी नॉलेज है। तुमको भी सिखलाते हैं। बाप को याद करने से तुम पवित्र बन जायेंगे, होली ताज मिलेगा और सृष्टि चक्र को जानने से रत्न जड़ित ताज़ मिलेगा। डबल सिरताज बन जायेंगे। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। नहीं तो धर्मराज के डन्डे खाने पड़ेंगे। पद भी भ्रष्ट हो जायेगा इसलिए बाप को याद करना है। फिर खुशी भी चाहिए गुप्त। आवाज़ से हंसना नहीं है। लक्ष्मी-नारायण को हर्षित मुख कहा जाता है। हर्षितमुख रहना और हंसना अलग-अलग बात है। हर्षितमुख रहने से वह गुप्त खुशी रहती है। आवाज़ से हंसना बुरी बात है। हर्षित रहना सबसे अच्छा है। खिलखिला कर हंसना (आवाज से हंसना) भी एक विकार है। वह भी नहीं रहना चाहिए। खुशी चेहरे पर आनी चाहिए। वह आयेगी तब जब आप समान बनायेंगे। सर्विस और सर्विस। सर्विस मिली और यह भागा, दूसरी कोई बात नहीं। तुम बच्चे सर्विस करते हो, कांटों को कली बनाते हो। बाबा बच्चों को अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स बताते हैं। यह निश्चय रखना है कि बाबा ही सुनाते हैं। यह भी कहते हैं मेरी महिमा नहीं करना। महिमा सारी शिवबाबा की है, उनको याद करने से ही पूरा विकर्माजीत बनेंगे। बहुत सहज बात है। याद करना है और चक्र फिराना है। स्वदर्शन चक्रधारी पूरे अन्त में बनते हैं नम्बरवार। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1- बाप को साथ रखने की युक्ति रचनी है। भोजन पर याद में रहना है। अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। अपनी पुरानी देह से भी लॅव नहीं रखना है।

2- बाप का पूरा रिगॉर्ड रखना है। अंहकार में नहीं आना है। नाम-रूप की बीमारी से सदा दूर रहना है। ज्ञान-योग में मस्त रहना है।

वरदान:- विशेषता देखने का चश्मा पहन सम्बन्ध-सम्पर्क में आने वाले विश्व परिवर्तक भव
एक दो के साथ सम्बन्ध वा सम्पर्क में आते हर एक की विशेषता को देखो। विशेषता देखने की ही दृष्टि धारण करो। जैसे आजकल का फैशन और मजबूरी चश्मे की है। तो विशेषता देखने वाला चश्मा पहनो। दूसरा कुछ दिखाई ही न दे। जैसे लाल चश्मा पहन लो तो हरा भी लाल दिखाई देता है। तो विशेषता के चश्में द्वारा कीचड़ को न देख कमल को देखने से विश्व परिवर्तन के विशेष कार्य के निमित्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- परचिंतन और परदर्शन की धूल से सदा दूर रहो तो बेदाग अमूल्य हीरा बन जायेंगे।
Font Resize