daily murli 31 March

TODAY MURLI 31 MARCH 2021 DAILY MURLI (English)

31/03/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the one Father is the number one actor and His act is to purify the impure. No one else can act like the Father.
Question: The yoga of sannyasis is physical. How does the Father teach you spiritual yoga?
Answer: Sannyasis teach you to have yoga with the brahm element. However, that is a place of residence and it is physical yoga. The elements are not said to be the Supreme. You children have yoga with the Supreme Spirit and this is why your yoga is spiritual. Only the Father can teach this yoga. No one else can teach it because only He is your spiritual Father.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. Children, many people say, “Om shanti”, that is, they give the introduction of themselves, souls, but they themselves are not able to understand that. They have made up many meanings for the term “Om shanti”. Some say that Om means God, but no! It is the soul that says, “Om shanti”. The original religion of oneself, a soul, is peace. This is why it is said, “I, a soul, am an embodiment of peace.” This is my body through which I perform actions. It is so easy! In fact, even the Father says “Om shanti”. However, because I am the Father of everyone, because I am the Seed, I know the beginning, the middle and the end of the kalpa tree, the tree of creation. When you see a tree, you can understand its beginning, middle and end. That seed is non-living. The Father explains: This is the kalpa tree and you cannot know its beginning, middle or end. I know it. I am called the Ocean of Knowledge. I sit here and explain to you children the secrets of the beginning, the middle and the end. This is a play, and it is called the drama and you are the actors in it. The Father says: I too am an actor. Children say: O Baba, Purifier, become an actor and come here! Come and purify the impure! The Father says: I am now acting. My part is only at this confluence age. I don’t have a body of My own. I am acting through this body. My name is Shiva. He only explains to His children. There cannot be a school of monkeys or animals. However, the Father says: Because human beings have the five vices, their faces are like those of human beings, but their activity is like that of monkeys. The Father explains to the children: All call themselves impure, but they don’t know who makes them impure or who then comes and purifies them. Who is the Purifier to whom they call out? They don’t understand anything! They don’t understand that they are all actors. I, a soul, take this costume and play a part. Souls come from the supreme abode and play their parts. The whole play is based on Bharat. Bharat was pure. Who made Bharat impure? Ravan. They sing that there used to be the kingdom of Ravan over Lanka. The Father takes you into the unlimited. O children, this whole world is an unlimited Lanka (island). That Lanka is a limited Lanka. There is the kingdom of Ravan over this unlimited island. At first, it was the kingdom of Rama and now it is the kingdom of Ravan. Children ask: Baba, where is the kingdom of God (Rama)? The Father replies: Children, it existed here and everyone wants it again. You people of Bharat belonged to the original eternal deity religion, not the Hindu religion. Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, at first, only you were there in Bharat. Who gave you that kingdom of the golden age? It was definitely Heavenly God, the Father, who gave you your inheritance. The Father explains that so many have been converted to other religions. When there was the kingdom of the Muslims here, they converted so many into Muslims. When there was the kingdom of Christians here, so many were made into Christians. The Buddhists didn’t even have a kingdom here and yet so many became Buddhists; they converted to that religion. It is only when the original eternal deity religion has disappeared that it can be established once again. The Father tells you people of Bharat: Sweetest children, you all belonged to the original eternal deity religion. You took 84 births. You went into the Brahmin, deity and warrior clans. You have now come into the Brahmin clan in order to go into the deity clan. They sing: Salutations to the Brahmins who are to become deities. They first mention the name of Brahmins. It was Brahmins who made Bharat into heaven. This is the ancient yoga of Bharat. The Raja Yoga that existed earlier is mentioned in the Gita. Who taught the yoga of the Gita? The people of Bharat have forgotten that. The Father explains that He taught you children yoga. This is spiritual yoga. All other yogas are physical. Sannyasis teach physical yoga or how to have yoga with the brahm element. That is wrong. The element of brahm is a place of residence. That is not the Supreme Spirit. They have forgotten the Father. You also forgot Him; you forgot your own religion. This too is fixed in the drama. There was no yoga abroad. Hatha yoga and Raja Yoga exist here. Sannyasis of the path of isolation cannot teach you Raja Yoga. Only those who know it can teach it. Sannyasis even let go of their kingdoms. There is the example of King Gopichand; he renounced his kingdom and went off into the forest. There is a story about him. Sannyasis make you renounce a kingdom, so how can they teach Raja Yoga? At present, the whole tree has reached a state of total decay; it is now about to fall. When a tree reaches a state of total decay, it is eventually made to fall down. In the same way, this human world tree is also tamopradhan; there is no strength left in it. It will definitely be destroyed. Before that happens, the original eternal deity religion has to be established here. No one in the golden age is in the state of degradation. People go abroad and teach yoga but that is hatha yoga; there is no knowledge in that. There are many types of hatha yoga. This is Raja Yoga. It is called spiritual yoga. All the others are physical yoga. Human beings teach human beings that yoga. The Father explains to you children: Only once do I teach you this Raja Yoga. No one else can ever teach it to you. The spiritual Father teaches you spiritual children: Constantly remember Me alone and your sins will be erased. Hatha yogis can never say this. The Father explains to souls. This is something new. The Father is now making you soul conscious. The Father doesn’t have a body. He enters this one’s body and changes his name because he has died alive. When householders become sannyasis, they die alive. They leave the household ashram and go onto the path of isolation. When you die alive, your name also changes. In the beginning, names were given to everyone. Some of them, who were amazed while listening to this knowledge and who related it to others, then left and went away. The giving of names stopped. This is why the Father says: If I give them names and they then run away, that is useless. The names of those who came at the beginning were very entertaining. Now, they are not given such names. Names would be given to those who have remained here permanently. Many were given names, but they then divorced the Father and left. This is why names are no longer changed. The Father explains: This knowledge will also sit in the intellects of Christians. They will understand that only the incorporeal Father came and taught the yoga of Bharat. Only by remembering the Father will your sins be burnt away. Then we will return home. Those who belonged to this religion and who were then converted will come and stay here. You understand that human beings cannot grant salvation to human beings. This Dada too is a human being. He also says: I cannot grant anyone salvation. That Baba teaches us that only by having remembrance of the Father can we receive salvation. The Father says: Children, O souls, have yoga with Me and your sins will be absolved. At first, you were pure and golden aged and then alloy became mixed in you. Deities who were at first 24 carat gold have now reached the iron age. You have to study this yoga every cycle. You understand that some of you know everything and others know less. Some just come to see what is being taught here. They think: There are so many Brahma Kumars and Kumaris, there must definitely be Prajapita Brahma and very many have become his children. There must definitely be something there, and so let’s go and ask them. “What do you receive from Prajapita Brahma?” This should be asked, but none of them has even this much of an intellect! For Bharat in particular it is said, “Those who had stone intellects became those with divine intellects and those with divine intellects became those with stone intellects.” In the golden and silver ages, you had divine intellects and were golden aged and then, in the silver age, they decreased by two degrees. It was because they failed that there is the name “moon dynasty”. This is also a school; those who receive less than 33% marks fail. Rama, Sita and their dynasty are not complete and this is why they cannot become those of the sun dynasty. Some will fail because the examination is very high. Earlier, the Government had the important I.C.S. examination. Not everyone could study for that. Only a handful out of many will emerge. If someone wants to become a sun-dynasty emperor or empress, a lot of effort is required for that. Mama and Baba are also studying according to shrimat. They study and claim number one. Then, those who follow the mother and father will sit on their throne. There is the dynasty of eight in the sun dynasty, just as there was Edward the First, Edward the Second. You have a lot of connection with the Christians. The Christian clan swallowed the kingdom of Bharat. They took limitless wealth from Bharat. Therefore, just think how much limitless wealth there will be in the golden age. Compared to that, what exists here is nothing! All the mines will be full there. The mines of everything have now become empty. The cycle will repeat again and so all the mines will become full again. Sweetest children, you are now conquering Ravan and claiming your kingdom. Then, after half the cycle, Ravan will come and you will lose your kingdom. You people of Bharat have now become like shells. I made you become like diamonds and Ravan made you become like shells. People don’t understand when Ravan came or why they burn an effigy of him. They say that Ravan has existed since the beginning of time. The Father explains: The kingdom of Ravan begins after half the cycle. Because they became vicious, they can no longer call themselves deities. In fact, you belonged to the deity religion. No one else can experience as much happiness as you. It is you who become the poorest too. The expansion of the other religions takes place later. When Christ came, there were very few at the beginning. It is only when there are many of them that they can rule a kingdom. You receive your kingdom first. All of these things are matters of knowledge. The Father says: O souls, remember Me, your Father. You have been body conscious for half the cycle. Now become soul conscious! You repeatedly forget this because rust has been accumulating on you for half the cycle. At this time you are Brahmins, the topknot. You are the highest of all. Sannyasis have yoga with the brahm element, but their sins are not absolved through that. Everyone definitely has to pass through the stages of sato, rajo and tamo. No one can return home. When everyone becomes tamopradhan, the Father comes and makes everyone satopradhan, that is, everyone’s light is ignited. Each soul has received his own part. You are hero and heroine actors. You people of Bharat are the highest of all because you claim the kingdom and then lose it. No one else receives a kingdom like this. They take kingdoms by physical power. Baba has explained that those who were the masters of the world will become that again. No one but the Father can teach you true Raja Yoga. The yoga that people teach is inaccurate yoga. Not a single one can return home. It is now the end. Everyone is to be liberated from sorrow and they will then come down, numberwise. Happiness will be experienced first and then sorrow will be experienced. All of these matters have to be understood. It is said: Let your hands do the work while your heart remembers the Father. Continue to do your work and connect your intellects in yoga to the Father. You souls are lovers of the one Beloved. That Beloved has now come. He makes all of you brides beautiful and takes you back home. He is the unlimited Bridegroom of the unlimited brides. He says: I will take everyone back home. You will then claim your status, numberwise, according to the efforts you make. You may live at home with your families and look after your children. O souls, your hearts should be directed to the Father. Continue to practise this remembrance. You children understand that you are now to become residents of heaven by remembering the Father. You students should have a lot of happiness. This is very easy. According to the drama, you show the path to everyone. There is no need to debate with anyone. All of this knowledge is now in your intellects. When human beings recover from a disease, people congratulate them. Here, the whole world is diseased. In a short time, there will be cries of victory. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Become true lovers. Continue to work with your hands and let your intellects practise remembering the Beloved. Maintain the happiness that you are becoming residents of heaven by having remembrance of the Father.
  2. In order to be seated on the throne in the sun dynasty, completely follow the mother and father. Become as knowledge-full as the Father and show everyone the path.
Blessing: May you be a constantly victorious, conqueror of Maya by experiencing a current with your unbroken connection.
The power of electricity gives such a current that a person is thrown far away by that shock. In the same way, let Godly power throw Maya far away; let there be such a current. However, the basis of that current is your connection. While walking and moving around, keep your connection forged with the Father at every second. Let there be such an unbroken connection that you receive a current and become a victorious and conqueror of Maya.
Slogan: A tapaswi is one who is free from the bondage of any influence from those who perform good or bad actions.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 MARCH 2021 : AAJ KI MURLI

31-03-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – एक बाप ही नम्बरवन एक्टर है जो पतितों को पावन बनाने की एक्ट करते हैं, बाप जैसी एक्ट कोई कर नहीं सकता”
प्रश्नः- संन्यासियों का योग जिस्मानी योग है, रूहानी योग बाप ही सिखलाते हैं, कैसे?
उत्तर:- संन्यासी ब्रह्म तत्व से योग रखना सिखलाते हैं। अब वह तो रहने का स्थान है। तो वह जिस्मानी योग हो गया। तत्व को सुप्रीम नहीं कहा जाता। तुम बच्चे सुप्रीम रूह से योग लगाते इसलिए तुम्हारा योग रूहानी योग है। यह योग बाप ही सिखला सकते, दूसरा कोई भी सिखला न सके क्योंकि वही तुम्हारा रूहानी बाप है।
गीत:- तू प्यार का सागर है…

ओम् शान्ति। बच्चे, बहुत लोग कहते हैं ओम् शान्ति अर्थात् अपनी आत्मा की पहचान देते हैं। परन्तु खुद समझ नहीं सकते। ओम् शान्ति का अर्थ बहुत निकालते हैं। कोई कहते हैं ओम् माना भगवान। परन्तु नहीं, यह आत्मा कहती है ओम् शान्ति। अहम् आत्मा का स्वधर्म है ही शान्त इसलिए कहते हैं मैं हूँ शान्त स्वरूप। यह मेरा शरीर है जिससे हम कर्म करते हैं। कितना सहज है। वैसे बाप भी कहते हैं ओम् शान्ति। परन्तु मैं सबका बाप होने कारण, बीजरूप होने कारण भी जो रचना रूपी झाड़ है, कल्पवृक्ष उसके आदि-मध्य-अन्त को जानता हूँ। जैसे तुम कोई भी झाड़ देखो तो उसके आदि मध्य अन्त को जान जाओ, वह बीज तो जड़ है। तो बाप समझाते हैं यह कल्प वृक्ष है, इसके आदि मध्य अन्त को तुम नहीं जान सकते, मैं जानता हूँ। मुझे कहते ही हैं ज्ञान का सागर। मैं तुम बच्चों को बैठ आदि मध्य अन्त का राज़ समझा रहा हूँ। यह जो नाटक है, जिसको ड्रामा कहा जाता, जिसके तुम एक्टर्स हो बाप कहते हैं मैं भी एक्टर हूँ। बच्चे कहते हैं हे बाबा पतित-पावन एक्टर बन आओ, आकर पतितों को पावन बनाओ। अब बाप कहते हैं मैं एक्ट कर रहा हूँ। मेरा पार्ट सिर्फ इस संगम समय ही है। सो भी मुझे अपना शरीर नहीं है। मैं इस शरीर द्वारा एक्ट करता हूँ। मेरा नाम शिव है। बच्चों को ही तो समझायेंगे ना। पाठशाला कोई बन्दरों वा जानवरों की नहीं होती है। परन्तु बाप कहते हैं कि इन 5 विकारों के होने कारण शक्ल तो मनुष्य जैसी है लेकिन कर्तव्य बन्दरों जैसे हैं। बच्चों को बाप समझाते हैं कि पतित तो सब अपने को कहलाते ही हैं। परन्तु यह नहीं जानते कि हमको पतित कौन बनाते हैं और पावन फिर कौन आकर बनाते हैं? पतित-पावन कौन? जिसको बुलाते हैं, कुछ भी समझ नहीं सकते। यह भी नहीं जानते हम सब एक्टर्स हैं। हम आत्मा यह चोला लेकर पार्ट बजाती हैं। आत्मा परमधाम से आती है, आकर पार्ट बजाती है। भारत के ऊपर ही सारा खेल बना हुआ है। भारत पावन, भारत पतित किसने बनाया? रावण ने। गाते भी हैं कि रावण का लंका पर राज्य था। बाप बेहद में ले जाते हैं। हे बच्चों, यह सारी सृष्टि बेहद का टापू है। वह तो हद की लंका है। इस बेहद के टापू पर रावण का राज्य है। पहले रामराज्य था अब रावण राज्य है। बच्चे कहते हैं बाबा रामराज्य कहाँ था? बाप कहते हैं बच्चे वह तो यहाँ था ना, जिसको सब चाहते हैं।

तुम भारतवासी आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हो, हिन्दू धर्म के नहीं हो। मीठे-मीठे सिकीलधे लाडले बच्चों, तुम ही पहले-पहले भारत में थे। तुमको वह सतयुग का राज्य किसने दिया था? जरूर हेविनली गॉड फादर ही यह वर्सा देंगे। बाप समझाते हैं कि कितने और-और धर्मो में कनवर्ट हो गये हैं। मुसलमानों का जब राज्य था तो बहुतों को मुसलमान बनाया। क्रिश्चियन का राज्य था तो बहुतों को क्रिश्चियन बनाया। बौद्धियों का तो यहाँ राज्य भी नहीं हुआ तो भी बहुतों को बौद्धी बनाया। कनवर्ट किया है अपने धर्म में। आदि सनातन धर्म जब प्राय:लोप हो जाए तब तो फिर उस धर्म की स्थापना हो। तो बाप तुम सभी भारतवासियों को कहते हैं कि मीठे-मीठे बच्चे, तुम सब आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे। तुमने 84 जन्म लिए। ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय…. वर्ण में आये। अब फिर ब्राह्मण वर्ण में आये हो देवता वर्ण में जाने के लिए। गाते भी हैं ब्राह्मण देवताए नम:, पहले ब्राह्मणों का नाम लेते हैं। ब्राह्मणों ने ही भारत को स्वर्ग बनाया है। यह है ही भारत का प्राचीन योग। पहले-पहले जो राजयोग था, जिसका गीता में वर्णन है। गीता का योग किसने सिखलाया था? यह भारतवासी भूल गये हैं। बाप समझाते हैं कि बच्चे योग तो मैंने सिखलाया था। यह है रूहानी योग। बाकी सब हैं जिस्मानी योग। संन्यासी आदि जिस्मानी योग सिखलाते हैं कि ब्रह्म से योग लगाओ। वह तो रांग हो जाता है। ब्रह्म तत्व तो रहने का स्थान है। वह कोई सुप्रीम रूह नहीं ठहरा। बाप को भूल गये हैं। तुम भी भूल गये थे। तुम अपने धर्म को भूल गये हो। यह भी ड्रामा में नूंध है। विलायत में योग था नहीं। हठयोग और राजयोग यहाँ ही है। वह निवृत्ति मार्ग वाले संन्यासी कब राजयोग सिखला न सकें। सिखाये वह जो जानता हो। संन्यासी लोग तो राजाई भी छोड़ देते हैं। गोपीचन्द राजा का मिसाल है ना। राजाई छोड़ जंगल में चला गया। उसकी भी कहानी है। संन्यासी तो राजाई छुड़ाने वाले हैं, वह फिर राजयोग कैसे सिखला सकते। इस समय सारा झाड़ जड़ जड़ीभूत हो गया है। अभी गिरा कि गिरा। कोई भी झाड़ जब जड़जड़ीभूत हो जाता है तो अन्त में उसको गिराना पड़ता है। वैसे यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ भी तमोप्रधान है, इनमें कोई सार नहीं है। इनका जरूर विनाश होगा। इनके पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना यहाँ करनी होगी। सतयुग में कोई दुर्गति वाला होता नहीं। यह विलायत में जाकर योग सिखलाते हैं परन्तु वह है हठयोग। ज्ञान बिल्कुल नहीं। अनेक प्रकार के हठयोग हैं। यह है राजयोग, इसको रूहानी योग कहा जाता है। वह सब हैं जिस्मानी। मनुष्य, मनुष्य को सिखाने वाले हैं। बाप बच्चों को समझाते हैं कि मैं तुमको एक ही बार यह राजयोग सिखाता हूँ और कोई कदाचित सिखा न सके। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को सिखाते हैं कि मामेकम् याद करो तो तुम्हारे सब पाप मिट जायेंगे। हठयोगी कब ऐसे कह न सकें। बाप आत्माओं को समझाते हैं। यह नई बात है। बाप तुमको अब देही-अभिमानी बना रहे हैं। बाप को देह है नहीं। इसके तन में आते हैं, इसका नाम बदल देते हैं क्योंकि मरजीवा बना है। जैसे गृहस्थी जब संन्यासी बनते हैं तो मरजीवा बने, गृहस्थ आश्रम छोड़ निवृति मार्ग ले लिया। तो तुम्हारा भी मरजीवा बनने से नाम बदल जाता है। पहले शुरू में सबके नाम लाये थे फिर जो आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती, भागन्ती हो गये तो नाम आना बन्द हो गया इसलिए अब बाप कहते हैं कि हम नाम दें और फिर भाग जायें तो फालतू हो जाता है। पहले आने वालों के जो नाम रखे, वह बहुत रमणीक थे। अब नहीं रखते हैं। उनका रखें जो सदैव कायम भी रहें। बहुतों के नाम रखे फिर बाप को फारकती दे चले गये इसलिए अब नाम नहीं बदलते हैं। बाप समझाते हैं कि यह ज्ञान क्रिश्चियन की बुद्धि में भी बैठेगा। इतना समझेंगे कि भारत का योग निराकार बाप ने ही आकर सिखाया था। बाप को याद करने से ही पाप भस्म होंगे और हम अपने घर चले जायेंगे। जो इस धर्म का होगा और कनवर्ट हो गया होगा तो वह ठहर जायेगा। तुम जानते हो कि मनुष्य, मनुष्य की सद्गति नहीं कर सकते। यह दादा भी मनुष्य है, यह कहता है कि मैं किसकी सद्गति नहीं कर सकता। यह तो बाबा हमको सिखलाते हैं कि तुम्हारी सद्गति भी याद से होगी। बाप कहते हैं बच्चों, हे आत्माओं मेरे साथ योग लगाओ तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम पहले गोल्डन एजेड प्योर थे फिर खाद पड़ गई है। जो पहले देवी देवता 24 कैरेट सोना थे, अब आइरन एज में आकर पहुँचे हैं। यह योग कल्प-कल्प तुमको सीखना पड़ता है। तुम जानते हो उसमें भी कोई पूरा जानते, कोई कम जानते। कोई तो ऐसे ही देखने आते हैं कि यहाँ क्या सिखाते हैं। ब्रह्माकुमार कुमारियाँ इतने ढेर बच्चे हैं। जरूर प्रजापिता ब्रह्मा होगा ना जिसके इतने बच्चे आकर बने हैं, जरूर कुछ होगा तो जाकर उन्हों से पूछे तो सही। तुमको प्रजापिता ब्रह्मा से क्या मिलता है? पूछना चाहिए ना! परन्तु इतनी बुद्धि भी नहीं है। भारत के लिए खास कहते हैं। गाया भी जाता है पत्थरबुद्धि सो पारसबुद्धि। पारसबुद्धि सो पत्थरबुद्धि। सतयुग त्रेता में पारसबुद्धि गोल्डन एज थे फिर सिलवर एज दो कला कम हुई इसलिए नाम पड़ा चन्द्रवंशी क्योंकि नापास हुए हैं। यह भी पाठशाला है। 33 मार्क्स से जो नीचे होते हैं वह फेल हो जाते हैं। राम सीता फिर उनकी डिनायस्टी सम्पूर्ण नहीं है इसलिए सूर्यवंशी बन न सकें। नापास तो कोई होंगे ना क्योंकि इम्तहान भी बहुत बड़ा है। आगे गवर्मेंन्ट का आई.सी.एस. का बड़ा इम्तहान होता था। सब थोड़ेही पढ़ सकते थे। कोटों में कोई निकलते हैं। कोई चाहे तो हम सूर्यवंशी महाराजा महारानी बनें तो उनमें भी बड़ी मेहनत चाहिए। मम्मा बाबा भी पढ़ रहे हैं श्रीमत से। वे पहले नम्बर में पढ़ते हैं फिर जो मात पिता को फॉलो करते वही उनके तख्त पर बैठेंगे। सूर्यवंशी 8 डिनायस्टी चलती हैं। जैसे एडवर्ड द फर्स्ट, द सेकेण्ड चलता है। तुम्हारा कनेक्शन इन क्रिश्चियन्स से अधिक है। क्रिश्चियन घराने ने भारत की राजाई हप की। भारत का अथाह धन ले गये फिर विचार करो तो सतयुग में कितना अथाह धन होगा। वहाँ की भेंट में तो यहाँ कुछ भी नहीं है। वहाँ सब खानियाँ भरतू हो जाती हैं। अब तो हर चीज की खानियाँ खाली होती जाती हैं। फिर चक्र रिपीट होगा तो फिर सब खानियाँ भरतू हो जायेंगी। मीठे-मीठे बच्चों तुम अब रावण पर जीत पाकर राजाई ले रहे हो फिर आधाकल्प बाद यह रावण आयेगा फिर तुम राजाई गँवा बैठेंगे। अभी भारतवासी तुम कौड़ी मिसल बन गये हो। हमने तुमको हीरे जैसे बनाया। रावण ने तुमको कौड़ी जैसा बनाया है। समझते नहीं कि यह रावण कब आया? हम क्यों उनको जलाते हैं। कहते हैं कि यह रावण तो परम्परा से चला आता है। बाप समझाते हैं कि आधाकल्प के बाद यह रावण राज्य शुरू होता है। विकारी बनने कारण अपने को देवी देवता कह नहीं सकते। वास्तव में तुम देवी देवता धर्म के थे। तुम्हारे जितना सुख कोई नहीं देख सकते। सबसे अधिक गरीब भी तुम बने हो। दूसरे धर्म वाले बाद में वृद्धि को पाते हैं। क्राइस्ट आया, पहले तो बहुत थोड़े थे। जब बहुत हो जाएं तब तो राजाई कर सकें। तुमको तो पहले राजाई मिलती है। यह तो सब ज्ञान की बातें हैं। बाप कहते हैं हे आत्मायें मुझ बाप को याद करो। आधाकल्प तुम देह-अभिमानी रहे हो। अब देही-अभिमानी बनो। घड़ी-घड़ी यह भूल जाते हो क्योंकि आधाकल्प की कट चढ़ी हुई है। इस समय तुम ब्राह्मण चोटी हो। तुम हो सबसे ऊंच। संन्यासी ब्रह्म से योग लगाते हैं उनसे विकर्म विनाश नहीं होते। हर एक को सतो रजो तमो में आना जरूर है। वापिस कोई भी जा नहीं सकते। जब सभी तमोप्रधान बन जाते हैं तब बाप आकर सभी को सतोप्रधान बनाते हैं अर्थात् सभी की ज्योति जग जाती है। हर एक आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। तुम हो हीरो हीरोइन पार्टधारी। तुम भारतवासी सबसे ऊंचे हो जो राज्य लेते हो फिर गंवाते हो और कोई राज्य नहीं लेता। वह राज्य लेते हैं बाहुबल से। बाबा ने समझाया है जो विश्व के मालिक थे वही बनेंगे। तो सच्चा राजयोग बाप के सिवाए कोई सिखला न सके। जो सिखाते हैं वह सब अयथार्थ योग है। वापिस तो कोई भी जा नहीं सकते। अभी है अन्त। सभी दु:ख से छूटते हैं फिर नम्बरवार आना है। पहले सुख देखना है फिर दु:ख देखना है। यह सब समझने की बातें हैं। कहा जाता है हथ कार डे दिल यार डे। काम करते रहो बाकी बुद्धि योग बाप से हो।

तुम आत्मायें आशिक हो एक माशूक की। अभी वह माशूक आया हुआ है। सभी आत्माओं (सजनियों) को गुल-गुल बनाए ले जायेंगे। बेहद का साजन बेहद की सजनियाँ हैं। कहता है मैं सबको ले जाऊंगा। फिर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जाकर पद पायेंगे। भल गृहस्थ व्यवहार में रहो, बच्चों को सम्भालो। हे आत्मा तुम्हारी दिल बाप की तरफ हो। यही याद की प्रैक्टिस करते रहो। बच्चे जानते हैं अभी हम स्वर्गवासी बनते हैं, बाप को याद करने से। स्टूडेन्ट को तो बहुत खुशी में रहना चाहिए। यह तो बड़ा सहज है। ड्रामा अनुसार सबको रास्ता बताना है। कोई से डिबेट करने की दरकार नहीं है। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारी नॉलेज आ गयी है। मनुष्य बीमारी से छूटते हैं तो बधाईयाँ देते हैं। यहाँ तो सारी दुनिया रोगी है। थोड़े समय में जयजयकार हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चे-सच्चे आशिक बन हाथों से काम करते बुद्धि से माशूक को याद करने की प्रैक्टिस करनी है। बाप की याद से हम स्वर्गवासी बन रहे हैं, इस खुशी में रहना है।

2) सूर्यवंशी डिनायस्टी में तख्तनशीन बनने के लिए मात-पिता को पूरा-पूरा फॉलो करना है। बाप समान नॉलेजफुल बन सबको रास्ता बताना है।

वरदान:- अटूट कनेक्शन द्वारा करेन्ट का अनुभव करने वाले सदा मायाजीत, विजयी भव
जैसे बिजली की शक्ति ऐसा करेन्ट लगाती है जो मनुष्य दूर जाकर गिरता है, शॉक आ जाता है। ऐसे ईश्वरीय शक्ति माया को दूर फेंक दे, ऐसी करेन्ट होनी चाहिए लेकिन करेन्ट का आधार कनेक्शन है। चलते फिरते हर सेकण्ड बाप के साथ कनेक्शन जुटा हुआ हो। ऐसा अटूट कनेक्शन हो तो करेन्ट आयेगी और मायाजीत, विजयी बन जायेंगे।
स्लोगन:- तपस्वी वह है जो अच्छे बुरे कर्म करने वालों के प्रभाव के बन्धन से मुक्त है।

TODAY MURLI 31 MARCH 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 March 2020

31/03/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now exiting the gate of the old world and entering the gate to the land of peace and the land of happiness. Only the Father shows you the path to liberation and liberation-in-life.
Question: What is the best karma at the present time?
Answer: The best karma is to become sticks for the blind in your thoughts, words and deeds. You children should churn the ocean of knowledge about which words should be written so that people can find the path home (to liberation), as well as to the land of liberation-in-life, so that they can easily understand that the path to peace and happiness is shown here.

Om shanti. Have you heard of the Magician’s lamp? Aladdin’s lamp too has been remembered. What does Aladdin’s lamp or the Magician’s lamp show you? It shows Vaikunth, heaven, the land of happiness. A lamp is called a light. At present, there is darkness. You children are now holding fairs and exhibitions to show everyone the light. You are spending so much money and beating your heads. You ask: Baba, what shall we call it? Bombay is called the “Gateway of India“. Steamers first dock in Bombay. In Delhi, too, there is “The India Gate “. This here is our gate to liberation and liberation-in-life. There are two gates. There are always two gatesin and out. One is for entering and the other is for exiting. It is the same here. We come into the new world, then go out of the old world and then return to our home. However, we’re unable to return home by ourselves because we have forgotten our home. The Guide is needed. We have found Him and He is showing us the way. You children know that Baba is showing you the way to liberation and liberation-in-life, peace and happiness. Therefore, you should write: Gateway to the land of peace and the land of happiness. You have to churn this. They have many thoughts about what liberation is and what liberation-in-life is. No one knows what these are. Everyone wants peace and happiness. Let there be peace and also wealth and prosperity. These only exist in the golden age. Therefore, “Gateway to Shantidham and Sukhdham” should be written, otherwise, “Gate to PurityPeace and Prosperity“. These words are good. These three things do not exist here. Therefore, it should be explained that all of these existed in the new world. God, the Father, the Purifier, is the One who establishes the new world. Therefore, we definitely have to exit this old world and return home. So, this is the gate to puritypeace and prosperity. Baba likes this name. In fact, although it is Shiv Baba who carries out the opening, He does it through us Brahmins. There are many opening ceremonies in the world. Some are for hospitals, some for universities but this inauguration only takes place once and only at this time. This is why a lot of thought is given to this. Some children have written: Brahma Baba should come and inaugurate this. We should invite both Bap and Dada. The Father says: You’re not allowed to go anywhere outside. The conscience does not allow me to go to inaugurate it. Anyone can inaugurate it. It will be published in the papers: Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. This name is good. Prajapita means the Father of everyone. He is no less. The Father Himself carries out the ceremony. He is Karankaravanhar. Let it remain in your intellects that you are establishing heaven. Therefore, you should make so much effort and follow shrimat. At the present time, there is only one best karma to do with your thoughts, words and deeds, and that is to become sticks for the blind. People even say: O God, give a stick to the blind! All are blind. Therefore, the Father comes and becomes that stick. He gives the third eye of knowledge through which you go to heaven, numberwise, according to the efforts you make. It is numberwise. This is a very big hospital-cum-university. It has been explained that the Father of all souls is the Supreme Father, the Supreme Soul, and the Purifier. Remember that Father and you will go to the land of happiness. This is hell; it cannot be called heaven. There is only one religion in heaven. When Bharat was heaven, there were no other religions there. Simply to remember this means to be “Manmanabhav.” In heaven, we were the masters of the whole world. You do not remember even this. It is in your intellects that you have found the Father. Therefore, you should have the happiness of that. However, Maya is no less. Even after belonging to such a Father, you are unable to have that much happiness. You continue to choke. Maya repeatedly makes you choke a lot. She makes you forget to have remembrance of Shiv Baba. Then, you say: I’m unable to stay in remembrance. The Father makes you dive deep into the ocean of knowledge, whereas Maya makes you flounder in the ocean of poison. Some happily flounder a lot. The Father says: Remember Shiv Baba. Nevertheless, Maya makes them forget. They don’t have remembrance of the Father. They don’t even know the Father. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He is the One who finishes all our sorrow. People go to the Ganges to bathe, because they consider the Ganges to be the Purifier. In the golden age, you won’t say that the Ganges removes your sorrow or erases your sins. Sages and holy men etc. all go and sit on the banks of a river. Why do they not sit on the shore of an ocean? You children are now sitting on the shore of the Ocean. Many children come to the Ocean. It is understood that these small and large rivers have emerged from the Ocean. The names “Brahmaputra” and “Sindh Saraswati” are given to them. The Father explains: Children, you have to pay a lot of attention to your thoughts, words and deeds. Never become angry. Anger first arises in the mind and then in words and deeds. These are three windows. This is why the Father explains: Sweet children, do not talk unnecessarily. Stay in silence. When something emerges in words, it will also happen in your deeds. Anger first arises in the mind and then comes out in words and deeds. It comes out of all three windows. It will first enter the mind. People of the world continue to cause sorrow for one another; they continue to fight. You must not cause sorrow for anyone. You shouldn’t even have a thought of that. It is very good to remain in silence. The Father comes and opens the gate to heaven, that is, the gate to peace and happiness. He only tells you children this. He tells you children to tell others. Purity, peace and prosperity only exist in heaven. You have to understand how you can go there. The Mahabharat War also opens the gates. Baba continues to churn the ocean of knowledge about what name should be given. By churning this ocean of knowledge in the morning you’re able to extract the butter. Good suggestions emerge. This is why Baba says: Wake up in the morning, remember the Father and churn the ocean of knowledge about what name should be given. Think about this. Some of you are able to come up with good ideas. You now understand that to change an impure person into a pure one means to change him from a resident of hell into a resident of heaven. Deities are pure. This is why people bow down in front of them. Although it’s against the rules for you to bow down to anyone now, you have to continue to act tactfully. Sages consider themselves to be elevated and pure and everyone else to be impure and degraded. Even though you know that you are the most elevated, when someone greets you with palms together, you have to respond to him. When they greet you in that way, you have to respond in the same way. If you do not interact with them tactfully, you will be unable to catch hold of them. You need plenty of tact. When death is standing over peoples’ heads, they all remember God. Nowadays, many things will continue to happen accidentally. Gradually, the fire will spread. The fire will start abroad and then, gradually, the whole world will burn away. At the end, only you children will remain. You souls will be purified, and you will then receive the new world. You children take new notes for the world. You rule there. Aladdin’s lamp is famous. By making such notes, you receive limitless treasures. This is accurate. You know that when a signal is given, Allah Aladdin instantly grants you visions. Simply remember Shiv Baba and you will all have visions. Devotees receive visions by doing intense devotion. Here, you receive visions of your aim and objective. Therefore, you can remember Baba and heaven a great deal. You will continue to see it again and again. Those who are clever and remain engaged in remembrance of Baba and this knowledge will be able to see the scenes and scenery at the end. The destination is very high. To consider yourself to be a soul and remember the Father is not like going to your aunty’s home! It requires a lot of effort. Remembrance is the main thing. Just as Baba is the Bestower of divine vision, in the same way, you will become bestowers of divine vision for yourselves. On the path of devotion, it is after they remember God with a lot of intensity that they have a vision. It is as though they become bestowers of divine vision through their own efforts. By remaining engaged in making effort to have remembrance, you will remain very happy and also have visions. You will be able to forget the whole of this world and become stable in the awareness of “Manmanabhav”. What else do you need? You will then leave your bodies with the power of yoga. There is effort in devotion. Effort is required in this too. Baba continues to show you a firstclass method of making effort. By considering yourselves to be souls, you will lose the awareness of bodies. It will be as though you become equal to the Father and you will continue to have visions. There will also be a lot of happiness. The result of the final time has been remembered. You also have to remain detached from your own name and form. Therefore, what would your state become if you remembered the names and forms of others? Knowledge is very easy. The ancient yoga of Bharat has been remembered; there is magic in it. Baba has explained that those who have knowledge of the brahm element also leave their bodies like this. They say: I am a soul and I will merge into the Supreme Soul. However, no one can merge. They have knowledge of the brahm element. Baba has seen that they leave their bodies simply whilst they are sitting somewhere. The atmosphere is very peaceful and there is dead silence. It is the ones who are on the path of knowledge, the ones who are able to remain peaceful, who experience that dead silence. However, some children are still babies; they continue to fall down again and again. A lot of incognito effort is required in this. The efforts of those on the path of devotion are visible; they turn the beads of a rosary. They sit in a little hut and do devotion, whereas here, you stay in remembrance whilst walking and moving around. No one is able to see that you are claiming the kingdom. You have to settle all your karmic accounts with yoga. They cannot be settled with knowledge. The accounts will be settled with remembrance. The suffering of karma will be settled with remembrance. This is incognito. Everything that Baba teaches you is incognito. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never become angry in your thoughts, words or deeds. Pay a lot of attention to these three windows. Do not talk unnecessarily. Do not cause sorrow for one another!
  2. Remain intoxicated in knowledge and yoga and watch the scenes and scenery at the end. Finish any consciousness of the body by forgetting your own name and form and the names and forms of others and remain in the awareness of souls.
Blessing: May you become constantly powerful by practising spiritual drilland pass the final paper.
At present, they teach exercise as a cure for all illnesses of the body. So, to make the soul powerful, you have to practise spiritual exercise. No matter how much an atmosphere of upheaval there may be all round, while being in the midst of sound, practise stabilising beyond sound. Stabilise your mind wherever you want, for however long you want and you will then become powerful and pass the final paper.
Slogan: To surrender your nature, sanskars and karma that are based on vices is to surrender yourself.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 March 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 March 2020

Murli Pdf for Print : – 

31-03-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“ मीठे बच्चे – तुम अभी पुरानी दुनिया के गेट से निकलकर शान्तिधाम और सुखधाम में जा रहे हो , बाप ही मुक्ति – जीवनमुक्ति का रास्ता बताते हैं ”
प्रश्नः- वर्तमान समय सबसे अच्छा कर्म कौन सा है?
उत्तर:- सबसे अच्छा कर्म है मन्सा, वाचा, कर्मणा अन्धों की लाठी बनना। तुम बच्चों को विचार सागर मंथन करना चाहिए कि ऐसा कौन-सा शब्द लिखें जो मनुष्यों को घर का (मुक्ति का) और जीवनमुक्ति का रास्ता मिल जाए। मनुष्य सहज समझ लें कि यहाँ शान्ति सुख की दुनिया में जाने का रास्ता बताया जाता है।

ओम् शान्ति। जादूगर की बत्ती सुना है? अलाउद्दीन की बत्ती भी गाया जाता है। अलाउद्दीन की बत्ती वा जादूगर की बत्ती क्या-क्या दिखाती है! वैकुण्ठ, स्वर्ग, सुखधाम। बत्ती को प्रकाश कहा जाता है। अभी तो अन्धियारा है ना। अब यह जो प्रकाश दिखाने के लिए बच्चे प्रदर्शनी मेले करते हैं, इतना खर्चा करते हैं, माथा मारते हैं। पूछते हैं बाबा इनका नाम क्या रखें? यहाँ बाम्बे को कहते हैं गेट-वे ऑफ इन्डिया। स्टीमर पहले बाम्बे में ही आते हैं। देहली में भी इन्डिया गेट है। अब अपना यह है गेट ऑफ मुक्ति जीवनमुक्ति। दो गेट्स हैं ना। हमेशा गेट दो होते हैं इन और आउट। एक से आना, दूसरे से जाना। यह भी ऐसे है-हम नई दुनिया में आते हैं फिर पुरानी दुनिया से बाहर निकल अपने घर चले जाते हैं। परन्तु वापस आपेही तो हम जा नहीं सकते क्योंकि घर को भूल गये हैं, गाइड चाहिए। वह भी हमको मिला है जो रास्ता बताते हैं। बच्चे जानते हैं बाबा हमको मुक्ति-जीवनमुक्ति, शान्ति और सुख का रास्ता बताते हैं। तो गेट ऑफ शान्तिधाम सुखधाम लिखें। विचार सागर मंथन करना होता है ना। बहुत ख्यालात चलते हैं-मुक्ति-जीवनमुक्ति किसको कहा जाता है, वह भी कोई को पता नहीं है। शान्ति और सुख तो सभी चाहते हैं। शान्ति भी हो और धन दौलत भी हो। वह तो होता ही है सतयुग में। तो नाम लिख दें-गेट ऑफ शान्तिधाम और सुखधाम अथवा गेट ऑफ प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी। यह तो अच्छे अक्षर हैं। तीनों ही यहाँ नहीं हैं। तो इस पर फिर समझाना भी पड़े। नई दुनिया में यह सब था। नई दुनिया की स्थापना करने वाला है पतित-पावन, गाड फादर। तो जरूर हमको इस पुरानी दुनिया से निकल घर जाना पड़े। तो यह गेट हुआ ना-प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी का। बाबा को यह नाम अच्छा लगता है। अब वास्तव में उसकी ओपनिंग तो शिवबाबा करते हैं। परन्तु हम ब्राह्मणों द्वारा कराते हैं। दुनिया में ओपनिंग सेरीमनी तो बहुत होती रहती हैं ना। कोई हॉस्पिटल की करेंगे, कोई युनिवर्सिटी की करेंगे। यह तो एक ही बार होती है और इस समय ही होती है तो इसलिए विचार किया जाता है। बच्चों ने लिखा-ब्रह्मा बाबा आकर उद्घाटन करें। बापदादा दोनों को बुलायें। बाप कहते हैं तुम बाहर कहीं जा नहीं सकते। उद्घाटन करने के लिए जायें, विवेक नहीं कहता, कायदा नहीं। यह तो कोई भी खोल सकते हैं। अखबार में भी पड़ेगा-प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां। यह नाम भी बड़ा अच्छा है ना। प्रजापिता तो सबका बाप हो गया। वह कोई कम है क्या! और फिर बाप खुद सेरीमनी कराते हैं। करनकरावनहार है ना। बुद्धि में रहना चाहिए ना हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। तो कितना पुरूषार्थ कर श्रीमत पर चलना चाहिए। वर्तमान समय मंसा-वाचा-कर्मणा सबसे अच्छा कर्म तो एक ही है-अंधों की लाठी बनना। गाते भी हैं – हे प्रभू अंधों की लाठी। सब अन्धे ही अन्धे हैं। तो बाप आकर लाठी बनते हैं। ज्ञान का तीसरा नेत्र देते हैं, जिससे तुम स्वर्ग में नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जाते हो। नम्बरवार तो हैं ही। यह बहुत बड़ी बेहद की हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी है। समझाया जाता है-आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा पतित-पावन है। तुम उस बाप को याद करो तो सुखधाम चले जायेंगे। यह है हेल, इनको हेविन नहीं कहेंगे। हेविन में है ही एक धर्म। भारत स्वर्ग था, दूसरा कोई धर्म नहीं था। यह सिर्फ याद करें, यह भी मनमनाभव है। हम स्वर्ग में सारे विश्व के मालिक थे-इतना भी याद नहीं पड़ता है! बुद्धि में है हमको बाप मिला है तो वह खुशी रहनी चाहिए। परन्तु माया भी कम नहीं है। ऐसे बाप का बनकर फिर भी इतनी खुशी में नहीं रहते हैं। घुटके खाते रहते हैं। माया घड़ी-घड़ी बहुत घुटके खिलाती है। शिवबाबा की याद भुला देती है। खुद भी कहते हैं याद ठहरती नहीं है। बाप घुटका खिलाते हैं ज्ञान सागर में, माया फिर घुटका खिलाती है विषय सागर में। बड़ा खुशी से घुटका खाने लग पड़ते हैं। बाप कहते हैं शिवबाबा को याद करो। माया फिर भुला देती है। बाप को याद ही नहीं करते। बाप को जानते ही नहीं। दु:ख हर्ता सुख कर्ता तो परमपिता परमात्मा है ना। वह है ही दु:ख हरने वाला। वह फिर गंगा में जाकर डुबकी लगाते हैं। समझते हैं गंगा पतित-पावनी है। सतयुग में गंगा को दु:ख हरनी पाप कटनी नहीं कहेंगे। साधू सन्त आदि सब जाकर नदियों के किनारे बैठते हैं। सागर के किनारे क्यों नहीं बैठते हैं? अभी तुम बच्चे सागर के किनारे बैठे हो। ढेर के ढेर बच्चे सागर पास आते हैं। फिर समझते हैं सागर से निकली हुई यह छोटी-बड़ी नदियाँ भी हैं। ब्रह्म पुत्रा, सिंध, सरस्वती यह भी नाम रखे हुए हैं।

बाप समझाते हैं – बच्चे, तुम्हें मन्सा-वाचा-कर्मणा बहुत-बहुत ध्यान रखना है, कभी भी तुम्हें क्रोध नहीं आना चाहिए। क्रोध पहले मन्सा में आता फिर वाचा और कर्मणा में भी आ जाता है। यह तीन खिड़कियाँ हैं इसलिए बाप समझाते हैं-मीठे बच्चे, वाचा अधिक नहीं चलाओ, शान्त में रहो, वाचा में आये तो कर्मणा में आ जायेगा। गुस्सा पहले मन्सा में आता है फिर वाचा-कर्मणा में आता है। तीनों खिड़कियों से निकलता है। पहले मन्सा में आयेगा। दुनिया वाले तो एक-दो को दु:ख देते रहते हैं, लड़ते-झगड़ते रहते हैं। तुमको तो कोई को भी दु:ख नहीं देना है। ख्याल भी नहीं आना चाहिए। साइलेन्स में रहना बड़ा अच्छा है। तो बाप आकर स्वर्ग का अथवा सुख-शान्ति का गेट बतलाते हैं। बच्चों को ही बतलाते हैं। बच्चों को कहते हैं तुम भी औरों को बतलाओ। प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी होती है स्वर्ग में। वहाँ कैसे जाते हैं, वह समझना है। यह महाभारत लड़ाई भी गेट खोलती है। बाबा का विचार सागर मंथन तो चलता है ना। क्या नाम रखें? सवेरे विचार सागर मंथन करने से मक्खन निकलता है। अच्छी राय निकलती है, तब बाबा कहते हैं सवेरे उठ बाप को याद करो और विचार सागर मंथन करो-क्या नाम रखा जाए? विचार करना चाहिए, कोई का अच्छा विचार भी निकलता है। अब तुम समझते हो पतित को पावन बनाना माना नर्कवासी से स्वर्गवासी बनाना। देवतायें पावन हैं, तब तो उनके आगे माथा टेकते हैं। तुम अभी किसको माथा नहीं टेक सकते हो, कायदा नहीं। बाकी युक्ति से चलना होता है। साधू लोग अपने को ऊंच पवित्र समझते हैं, औरों को अपवित्र नींच समझते हैं। तुम भल जानते हो हम सबसे ऊंच हैं परन्तु कोई हाथ जोड़े तो रेसपान्ड देना पड़े। हरीओम् तत्सत् करते हैं, तो करना पड़े। युक्ति से नहीं चलेंगे तो वह हाथ नहीं आयेंगे। बड़ी युक्तियां चाहिए। जब मौत सिर पर आता है तो सभी भगवान का नाम लेते हैं। आजकल इत़फाक तो बहुत होते रहेंगे। आहिस्ते-आहिस्ते आग फैलती है। आग शुरू होगी विलायत से फिर आहिस्ते-आहिस्ते सारी दुनिया जल जायेगी। पिछाड़ी में तुम बच्चे ही रह जाते हो। तुम्हारी आत्मा पवित्र हो जाती है तो फिर तुमको वहाँ नई दुनिया मिलती है। दुनिया का नया नोट तुम बच्चों को मिलता है। तुम राज्य करते हो। अलाउद्दीन की बत्ती भी मशहूर है ना! नोट ऐसा करने से कारून का खजाना मिल जाता है। है भी बरोबर। तुम जानते हो अल्लाह अवलदीन झट इशारे से साक्षात्कार कराते हैं। सिर्फ तुम शिवबाबा को याद करो तो सब साक्षात्कार हो जायेंगे। नौधा भक्ति से भी साक्षात्कार होता है ना। यहाँ तुमको एम ऑब्जेक्ट का साक्षात्कार तो होता ही है फिर तुम बाबा को, स्वर्ग को बहुत याद करेंगे। घड़ी-घड़ी देखते रहेंगे। जो बाबा की याद में और ज्ञान में मस्त होंगे वही अन्त की सभी सीन सीनरी देख सकेंगे। बड़ी मंजिल है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना, मासी का घर नहीं है। बहुत मेहनत है। याद ही मुख्य है। जैसे बाबा दिव्य दृष्टि दाता है तो स्वयं अपने लिए दिव्य दृष्टि दाता बन जायेंगे। जैसे भक्ति मार्ग में तीव्र वेग से याद करते हैं तो साक्षात्कार होता है। अपनी मेहनत से जैसे दिव्य दृष्टि दाता बन जाते हैं। तुम भी याद की मेहनत में रहेंगे तो बहुत खुशी में रहेंगे और साक्षात्कार होते रहेंगे। यह सारी दुनिया भूल जाए। मनमनाभव हो जाएं। बाकी क्या चाहिए! योगबल से फिर तुम अपना शरीर छोड़ देते हो। भक्ति में भी मेहनत होती है, इसमें भी मेहनत चाहिए। मेहनत का रास्ता बाबा बहुत फर्स्टक्लास बताते रहते हैं। अपने को आत्मा समझने से फिर देह का भान ही नहीं रहेगा। जैसे बाप समान बन जायेंगे। साक्षात्कार करते रहेंगे। खुशी भी बहुत रहेगी। रिजल्ट सारी पिछाड़ी की गाई हुई है। अपने नाम-रूप से भी न्यारा होना है तो फिर दूसरे के नाम-रूप को याद करने से क्या हालत होगी! नॉलेज तो बहुत सहज है। प्राचीन भारत का योग जो है, जादू उसमें है। बाबा ने समझाया है ब्रह्म ज्ञानी भी ऐसे शरीर छोड़ते हैं। हम आत्मा हैं, परमात्मा में लीन होना है। लीन कोई होते नहीं हैं। हैं ब्रह्म ज्ञानी। बाबा ने देखा है बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं। वायुमण्डल बड़ा शान्त रहता है, सन्नाटा हो जाता है। सन्नाटा भी उनको भासेगा जो ज्ञान मार्ग में होंगे, शान्त में रहने वाले होंगे। बाकी कई बच्चे तो अभी बेबियाँ हैं। घड़ी-घड़ी गिर पड़ते हैं, इसमें बहुत-बहुत गुप्त मेहनत है। भक्ति मार्ग की मेहनत प्रत्यक्ष होती है। माला फेरो, कोठी में बैठ भक्ति करो। यहाँ तो चलते-फिरते तुम याद में रहते हो। कोई को पता पड़ न सके कि यह राजाई ले रहे हैं। योग से ही सारा हिसाब-किताब चुक्तू करना है। ज्ञान से थोड़ेही चुक्तू होता है। हिसाब-किताब चुक्तू होगा याद से। कर्मभोग याद से चुक्तू होगा। यह है गुप्त। बाबा सब कुछ गुप्त सिखलाते हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन्सा-वाचा-कर्मणा कभी भी क्रोध नहीं करना है। इन तीनों खिड़कियों पर बहुत ध्यान रखना है। वाचा अधिक नहीं चलाना है। एक-दो को दु:ख नहीं देना है।

2) ज्ञान और योग में मस्त रह अन्तिम सीन सीनरी देखनी हैं। अपने वा दूसरों के नाम-रूप को भूल मैं आत्मा हूँ, इस स्मृति से देहभान को समाप्त करना है।

वरदान:- रूहानी ड्रिल के अभ्यास द्वारा फाइनल पेपर में पास होने वाले सदा शक्तिशाली भव
जैसे वर्तमान समय के प्रमाण शरीर के लिए सर्व बीमारियों का इलाज एक्सरसाइज़ सिखाते हैं। ऐसे आत्मा को सदा शक्तिशाली बनाने के लिए रूहानी एक्सरसाइज का अभ्यास चाहिए। चारों ओर कितना भी हलचल का वातावरण हो लेकिन आवाज में रहते आवाज से परे स्थिति का अभ्यास करो। मन को जहाँ और जितना समय स्थित करने चाहो उतना समय वहाँ स्थित कर लो – तब शक्तिशाली बन फाइनल पेपर में पास हो सकेंगे।
स्लोगन:- अपने विकारी स्वभाव-संस्कार व कर्म को समर्पण कर देना ही समर्पित होना है।

TODAY MURLI 31 MARCH 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 March 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 March 2019 :- Click Here

31/03/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
11/05/84

Making the laws through every step, thought and act of Brahmins.

Today, the Creator of the World is looking at His children who are creating the new world and who are the fortune of the new world. The fortune of you elevated, fortunate souls is the fortune of the world. You elevated children are supports for the new world. You are the special souls who have a right to the fortune and kingdom of the new world. Your new life renews the world. The world has to become elevated and full of happiness and peace. With the finger of this elevated determined thought of all of you, the sorrowful, iron-aged world changes into a world of happiness because you have become co-operative according to the shrimat of the Almighty Authority Father. This is why, together with the Father, the co-operation and the elevated yoga of all of you transform the world. Every step and every act of the easy yogi and Raj Yogi lives of you elevated souls at this time becomes a law for the new world. The methods used by Brahmins become the law for all time. Therefore, the children of the Bestower become bestowers, creators of fortune and law-makers. Even up to the lastbirth, devotees continue to ask for something from the images of you, who are children of the Bestower. You become such law-makers that, even now, at the time when the oath is taken, the Chief Justice makes everyone have remembrance of some form of God or the special deities before they take the oath. The power of the laws of you law-making children is still working even in the last birth. They don’t take an oath in their own name. They give importance to the Father or to you. You are the ones who are constant embodiments of blessings. They ask for different blessings from the different deities through your images. Someone is a deity of power, someone is a goddess of knowledge. You have become images that grant blessings and this is why the systems of devotion have continued from the beginning until now. Through BapDada you have constant happiness in your hearts and are embodiments of contentment and this is why, even now, in order to make themselves happy, they please the gods and goddesses believing them to be the only ones who will make them happy for all time. All of you have attained contentment, the greatest treasure of all, from the Father. That is why in order to be content, they worship the goddess of contentment. All of you are contented souls, Santoshi Maa, goddesses of contentment, are you not? All of you are content, are you not? All of you contented souls are images of contentment. You have attained success from the Father as your birthright and this is why they ask your images for a donation and blessings of success. However, because they have weak intellects and because they are weak souls, because of being beggar souls, they ask for temporary success. For instance, a beggar would never ask for 1000 rupees. He would only say: Give me a few paisas. Give me one or two rupees. In the same way, those souls who are beggars of happiness, peace and purity will only ask you for temporary success. “This task of mine should be accomplished; let there be success in this.” However, they ask for this from you souls who are embodiments of success. You children of the Father, who is the Comforter of Hearts, tell the Father, the Conqueror of your hearts, the things of your heart; you tell Him everything in your heart. Whatever you are unable to share with anyone else, you share with the Father. You become true children of the true Father. Even now, people go and share the things in their hearts in front of your images. Whatever secrets they want to hide, they will hide even from their most loving relatives, but they will not hide them from the gods and goddesses. In front of the world, they will say: I am this, I am honest, I am great. However, what would they say in front of the deities? Whatever I am, that is what I am. I am lustful, I am a cheat. Therefore, you are the fortune of such a new world. Each one of you has the fortune of the kingdom of the pure world in your fortune.

You souls are the most elevated fortune-makers, the bestowers of blessings and the lawmakers. All of you have the globe of the sovereignty of heaven in your hands. This is the butter. It is the butter of the fortune of the kingdom. Each one of you has a crown of light of the greatness of purity over your head. You are seated on the heart-throne. You have a tilak of self-sovereignty. So, do you understand who you are? You have solved the riddle of who you are, have you not? You studied this lesson on the first day, did you not? Who am I? I am not that; I am this. It is in this that all the knowledge of the Ocean of Knowledge is merged. You now know everything, do you not? Constantly have this spiritual intoxication with you. You are such elevated souls. You are so great. Your every thought, word and deed is becoming a memorial. It is becoming a law. Do everything in this elevated awareness. Do you understand? The vision of the whole world is on you souls. Whatever I do will become a law and a memorial for the world. If I come into upheaval, the world will come into upheaval. If I remain happy and content, the world will remain happy and content. All the souls who are instruments for the creation of the new world have this much responsibility. However, to the extent that the responsibility is great, it makes you that light, too, because the Almighty Authority Father is with you. Achcha.

To such constantly contented souls, to the children who are constant “master fortune-makers” and bestowers of blessings, to the souls who are constant embodiments of all attainments and are contented, to the elevated worthy-of-worship souls who, through remembrance, make their every act a memorial, love, remembrance and namaste from BapDada, the Fortune-Maker and the Bestower of Blessings.

BapDada meeting different groups of kumars:

1. All of you are elevated kumars, are you not? You are not ordinary kumars, you are elevated kumars. You are those who use the strength of your bodies and the power of your minds for an elevated task. You are not those who use your power for a destructive task. An act through the vices is a destructive act whereas a Godly task is an elevated task. So, you are elevated kumars who use all your powers for the Godly task. You don’t use any of your powers for a wasteful task, do you? You have now received the understanding as to where you have to use your powers. With this understanding, you constantly perform elevated tasks. Those who always remain engaged in such elevated tasks claim a right to elevated attainments. Have you claimed such rights? Do you experience that you are receiving elevated attainments? Or, do you still have to attain them? You experience accumulating multimillions at every step, do you not? Those who accumulate an income of multimillions in one step would be so elevated. Those who have accumulated so much wealth would be so happy. Nowadays, even millionaires and multi-millionaires have short-lived happiness, whereas yours is an ever-lasting property. Do you understand the definition of an elevated kumar? It means one who always uses every power for an elevated task. Your account of waste has ended for all time. Have you accumulated in your elevated account? Or, are both accounts open at the same time? One account has ended. Now is not the time to use both. That one has now ended for all time. If there are both at the same time, you won’t be able to accumulate as much as you want. If you haven’t wasted anything, but accumulated it, then how much have you accumulated? So, you have ended the account of waste and accumulated in the elevated account.

2. A kumar life is a powerful life. You can do whatever you want in a kumar life. You can make yourself elevated or you can bring yourself down. This kumar life is one that becomes elevated or low. In such a life, you now belong to the Father. Instead of being tied in the bondage of karmic accounts with a temporary life companion, you have found the real Companion for your life. You are so fortunate. When you came just now, did you come alone, or did you come in the combined form? (Combined.) You didn’t spend money for a ticket, did you? So, that was also a saving. In fact, if you were to bring a physical companion, you would spend money on a ticket and you would even have to carry her luggage. You would have to earn and feed her every day. This Companion doesn’t even eat; He just takes the fragrance. Your food isn’t reduced, but is in fact filled with more power. So, you have the Companion who doesn’t incur any expense or effort for you and He is the ever-lasting Companion. You also receive His complete co-operation. He doesn’t make you work hard, but gives you co-operation. When a difficult task comes in front of you, you remember Him and you receive help from Him. You have experienced this, have you not? When He is the One who gives even the devotees the fruit of their devotion, would He not give His companionship to someone who becomes His life companion? Kumars have become combined, but, in this combined form, you have become carefree emperors. You don’t have any hassle; you are carefree. You don’t have any burden of “Today, the child is ill”, or “Today, the child has not gone to school.” You are constantly free from bondage. By being tied in bondage to the One, you have become free from many bondages. Eat, drink and be merry! What else do you have to do? You prepare it yourself and eat it. You can eat whatever you want. You are independent. You have become so elevated. You are also good compared with the rest of the world. You do understand, do you not, that you have become free from the complications of the world? Let alone the soul, you are even saved from karmic accounts in terms of the body. You are safe to this extent. You don’t have any desire to have a gyani companion, do you? Do you have the desire to benefit some kumari? That is not benefit, that is harm. Why? You tie one bond and many others bondages begin from that. That one bond creates many other bondages and so you won’t receive help. It would be a burden. To look at, it might seem like help, but it is in fact a burden of many things. To the extent that you consider it to be a burden, it is a burden. So, you have been saved from many burdens. Never think about this even in your dreams. Otherwise, you will experience such a burden that you will find it difficult even to wake up. If you tie yourself in bondage having been free, there will be multi-millionfold burdens. Those poor ones were tied unknowingly, whereas you tie yourself knowingly. So, there would be an even greater burden of repentance. None of you are weak, are you? Weak ones don’t experience salvation. They neither belong here nor there. You have experienced salvation, have you not? Salvation means elevated salvation. Do you have some slight thought? Your photo is being taken. If you fluctuate even a little, your photo will be taken. To the extent that you become strong, accordingly, both your present and future become elevated.

3. All of you are powerful kumars, are you not? Are you powerful? Whatever thoughts constantly powerful souls have, whatever words they speak or actions they perform, they will all be powerful. The meaning of powerful is: those who end all waste. You are those who finish your account of waste and accumulate in your account of powerful. You never have any waste, do you? If you had a wasteful thought, spoke wasteful words or wasted time, how much would you lose in a second? At the confluence age, one second is so important. It is not one second, but one second is equal to one birth. You didn’t lose one second, you lost one birth. You are powerful souls who know the importance of time, are you not? Always have the awareness that you are the children of the powerful Father, that you are powerful souls. You are instruments for a powerful task. You will then always continue to experience the flying stage. Those who are weak are unable to fly. Powerful ones constantly continue to fly. So, which stage are you in: the flying stage or the climbing (ascending) stage? You become breathless climbing. You become tired and you also become breathless. However, in the flying stage, you reach the destination and become an embodiment of success in a second. When you are in the climbing stage, you will definitely become tired and breathless. To ask: “What should I do? How should I do this?” is to become breathless. In the flying stage you go beyond all of that. You receive touchings to do something; it is already accomplished. So, you are those who attain the destination of success in a second. This is known as being a powerful soul. The Father is pleased that all of you children are those in the flying stage. Why should you labour? The Father would want His children to remain free from labouring. Since the Father is showing you the way and He is making you doublelight, why do you come down? “What will happen? How will it happen?” This is a burden. There will always be benefit. Everything will always be elevated. Always move along in the awareness that success is your birthright.

4. Kumars have to fight to give a test-paper. When you have the thought that you have to become pure, Maya will begin to fight with you. A kumar life is an elevated life. You are great souls. Kumars now have to show wonders. The greatest wonder of all is to become equal to the Father and to make others the Father’s companions. Just as you have become the Father’s companions, in the same way, you have to make others the Father’s companions. You are servers who make the companions of Maya into the companions of the Father. Make them belong to the Father with your images that grant blessings and your good wishes and pure feelings. By using this method, you will constantly attain success. When you use an elevated method, you definitely achieve success. A kumar means one who is constantly unshakeable, not one who fluctuates. Unshakeable souls also make others unshakeable.

5. All of you are victorious kumars, are you not? When the Father is with you, you are constantly victorious. With any task you carry out with the constant support of the Father, you will experience it to take less effort and give you greater attainment. If you move away from the Father, even a little, there will be greater effort and less attainment. So the way to become free from labouring is to have the Father’s companionship at every second and in every thought. When you have this companionship, success is guaranteed. You are such companions of the Father, are you not? Let your steps be according to the Father’s orders. Let your steps be the Father’s footsteps. There is no need to think about whether you should place your foot here or not, whether this is right or wrong. If it were a new path, you would have to think about it, but since you have to place your steps in His footsteps, there is no need for you to think about anything. Always continue to move along with your steps in the Father’s footsteps and the destination will be close. The Father is making everything so easy for you. Shrimat is the footstep. Place your steps in the footsteps of shrimat and you will always stay free from having to make effort. You will receive total success as a right. Young kumars can also do a lot of service. Never cause mischief. Let your behaviour and way of speaking and interacting be such that everyone asks which school you go to. Service would then be done, would it not? Achcha.

Blessing: May you tighten the reins of shrimat with the awareness of being a master and a child and thereby control your mind.
People of the world say that the mind is like a very fast running horse, but your mind cannot run around here and there because the reins of shrimat are very strong. When your mind and intellect become engaged in looking at sidescenes, your reins become slack and so your mind causes mischief. Therefore, whenever any situation arises, or your mind causes mischief, tighten the reins of shrimat and you will reach your destination. “I am a child and a master”. With this awareness, you can become one with the right to control your mind.
Slogan: Always have the faith that whatever is happening is good and that whatever is going to happen will be even better and you will then remain unshakeable and immovable.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 MARCH 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 March 2019

To Read Murli 30 March 2019 :- Click Here
31-03-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 11-05-84 मधुबन

ब्राह्मणों के हर कदम, संकल्प, कर्म से विधान का निर्माण

विश्व रचता अपने नये विश्व के निर्माण करने वाले नये विश्व की तकदीर बच्चों को देख रहे हैं। आप श्रेष्ठ भाग्यवान बच्चों की तकदीर विश्व की तकदीर है। नये विश्व के आधार स्वरूप श्रेष्ठ बच्चे हो। नये विश्व के राज्य भाग्य के अधिकारी विशेष आत्मायें हो। आपकी नई जीवन विश्व का नव निर्माण करती है। विश्व को श्रेष्ठाचारी सुखी शान्त सम्पन्न बनाना ही है, आप सबके इस श्रेष्ठ दृढ़ संकल्प की अंगुली से कलियुगी दु:खी संसार बदल सुखी संसार बन जाता है क्योंकि सर्व शक्तिवान बाप की श्रीमत प्रमाण सहयोगी बने हो, इसलिए बाप के साथ आप सबका सहयोग, श्रेष्ठ योग विश्व परिवर्तन कर लेता है। आप श्रेष्ठ आत्माओं का इस समय का सहजयोगी, राजयोगी जीवन का हर कदम, हर कर्म नये विश्व का विधान बन जाता है। ब्राह्मणों की विधि सदा के लिए विधान बन जाती है इसलिए दाता के बच्चे दाता, विधाता और विधि विधाता बन जाते हैं। आज लास्ट जन्म तक भी आप दाता के बच्चों के चित्रों द्वारा भक्त लोग मांगते ही रहते हैं। ऐसे विधि विधाता बन जाते जो अब तक भी चीफ जस्टिस भी सभी को कसम उठाने के समय ईश्वर का या ईष्ट देव का स्मृति स्वरूप बनाए कसम उठवाते हैं। लास्ट जन्म में भी विधान में शक्ति आप विधि विधाता बच्चों की चल रही है। अपना कसम नही उठाते। बाप का, आपका महत्व रखते हैं। सदा वरदानी स्वरूप भी आप हो। भिन्न-भिन्न वरदान, भिन्न-भिन्न देवताओं और देवियों द्वारा आपके चित्रों द्वारा ही मांगते हैं। कोई शक्ति का देवता है, कोई विद्या की देवी है। वरदानी स्वरूप आप बने हो तब अभी तक भी परमपरा भक्ति की आदि से चलती रही है। सदा बापदादा द्वारा सर्व प्राप्ति स्वरूप प्रसन्नचित, प्रसन्नता स्वरूप बने हो तो अब तक भी अपने को प्रसन्न करने के लिए देवी देवताओं को प्रसन्न करते हैं कि ये ही हमें सदा के लिए प्रसन्न करेंगे। सबसे बड़े ते बड़ा खजाना सन्तुष्टता का बाप द्वारा आप सबने प्राप्त किया है इसलिए सन्तुष्टता लेने के लिए सन्तोषी देवी की पूजा करते रहते हैं। सभी सन्तुष्ट आत्मायें सन्तोषी माँ हो ना। सब सन्तोषी हो ना! आप सभी सन्तुष्ट आत्मायें सन्तोषी मूर्त हो। बापदादा द्वारा सफलता जन्म सिद्ध अधिकार रूप में प्राप्त की है इसलिए सफलता का दान, वरदान आपके चित्रों से मांगते हैं। सिर्फ अल्प बुद्धि होने के कारण, निर्बल आत्मायें होने के कारण, भिखारी आत्मायें होने के कारण अल्पकाल की सफलता ही मांगते हैं। जैसे भिखारी कभी भी यह नहीं कहेंगे कि हजार रूपया दो। इतना ही कहेंगे कुछ पैसे दे दो। एक रूपया, दो रूपया दे दो। ऐसे यह आत्मायें भी सुख-शान्ति पवित्रता की भिखारी अल्पकाल के लिए सफलता मांगेंगी। बस यह मेरा कार्य हो जाए, इसमें सफलता हो जाए। लेकिन मांगते आप सफलता स्वरूप आत्माओं से ही हैं। आप दिलाराम बाप के बच्चे दिलवाला बाप को सभी दिल का हाल सुनाते हो, दिल की बातें करते हो। जो किसी आत्मा से नहीं कर सकते वह बाप से करते हो। सच्चे बाप के सच्चे बच्चे बनते हो। अब भी आपके चित्रों के आगे सब दिल का हाल बोलते रहते हैं। जो भी अपनी कोई छिपाने वाली बात होगी, अपने स्नेही सम्बन्धी से छिपायेंगे लेकिन देवी देवताओं से नहीं छिपायेंगे। दुनिया के आगे कहेंगे मैं यह हूँ, सच्चा हूँ, महान हूँ, लेकिन देवताओं के आगे क्या कहेंगे? जो हूँ वह यही हूँ। कामी भी हूँ तो कपटी भी हूँ। तो ऐसे नये विश्व की तकदीर हो। हर एक की तकदीर में पावन विश्व का राज्य भाग्य है।

ऐसे विधाता वरदाता, विधि विधाता सर्व श्रेष्ठ आत्मायें हो। हरेक के श्रेष्ठ मत रूपी हाथों में स्वर्ग के स्वराज्य का गोला है। ये ही माखन है। राज्य भाग्य का माखन है। हरेक के सिर पर पवित्रता की महानता का, लाइट का क्राउन है। दिलतख्तनशीन हो। स्वराज्य के तिलकधारी हो। तो समझा मैं कौन? मैं कौन की पहेली हल करने आये हो ना? पहले दिन का पाठ यह पढ़ा ना। मैं कौन? मैं यह नहीं हूँ और मैं यह हूँ। इसी में ही सारा ज्ञान सागर का ज्ञान समाया हुआ है। सब जान गये हो ना। यही रूहानी नशा सदा साथ रहे। इतनी श्रेष्ठ आत्मायें हो। इतनी महान हो। हर कदम, हर संकल्प, हर कर्म यादगार बन रहा है, विधान बन रहा है, इसी श्रेष्ठ स्मृति से उठाओ। समझा। सारे विश्व की नज़र आप आत्माओं की तरफ है। जो मैं करूँगा वो विश्व के लिए विधान और यादगार बनेगा। मैं हलचल में आऊंगी तो दुनिया हलचल में आयेगी। मैं सन्तुष्टता, प्रसन्नता में रहूँगी, तो दुनिया सन्तुष्ट और प्रसन्न बनेगी। इतनी जिम्मेवारी हर विश्व नव निर्माण के निमित्त आत्माओं की है। लेकिन जितनी बड़ी है उतनी हल्की है क्योंकि सर्वशक्तिवान बाप साथ है। अच्छा!

ऐसे सदा प्रसन्नचित्त आत्माओं को, सदा मास्टर विधाता, वरदाता बच्चों को, सदा सर्व प्राप्ति स्वरूप सन्तुष्ट आत्माओं को, सदा याद द्वारा हर कर्म का यादगार बनाने वाली पूज्य महान आत्माओं को विधाता वरदाता बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

कुमारों के अलग-अलग ग्रुप से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सभी श्रेष्ठ कुमार हो ना? साधारण कुमार नहीं, श्रेष्ठ कुमार। तन की शक्ति, मन की शक्ति सब श्रेष्ठ कार्य में लगाने वाले। कोई भी शक्ति विनाशी कार्य में लगाने वाले नहीं। विकारी कार्य है विनाशकारी कार्य और श्रेष्ठ कार्य है ईश्वरीय कार्य। तो सर्व शक्तियों को ईश्वरीय कार्य में लगाने वाले श्रेष्ठ कुमार। कहाँ व्यर्थ के खाते में तो कोई शक्ति नहीं लगाते हो? अभी अपनी शक्तियों को कहाँ लगाना है, यह समझ मिल गई। इसी समझ द्वारा सदा श्रेष्ठ कार्य करो। ऐसे श्रेष्ठ कार्य में सदा रहने वाले श्रेष्ठ प्राप्ति के अधिकारी बन जाते हैं। ऐसे अधिकारी हो? अनुभव करते हो कि श्रेष्ठ प्राप्ति हो रही है? या होनी है? हर कदम में पदमों की कमाई जमा हो रही है ये अनुभव है ना? जिसकी एक कदम में पदमों की कमाई जमा हो वह कितने श्रेष्ठ हुए। जिसकी इतनी जमा सम्पत्ति हो उसको कितनी खुशी होगी! आजकल के लखपति, करोड़पति को भी विनाशी खुशी रहती है, आपकी अविनाशी प्रापर्टी है। श्रेष्ठ कुमार की परिभाषा समझते हो? सदा हर शक्ति श्रेष्ठ कार्य में लगाने वाले। व्यर्थ का खाता सदा के लिए समाप्त हुआ, श्रेष्ठ खाता जमा हुआ या दोनों चलता है? एक खत्म हुआ। अभी दोनों चलाने का समय नहीं है। अभी वह सदा के लिए खत्म। दोनों होंगे तो जितना जमा होना चाहिए उतना नहीं होगा। गँवाया नहीं, जमा हुआ तो कितना जमा होगा! तो व्यर्थ खाता समाप्त हुआ, समर्थ खाता जमा हुआ।

2. कुमार जीवन शक्तिशाली जीवन है। कुमार जीवन में जो चाहे वह कर सकते हो। चाहे अपने को श्रेष्ठ बनायें, चाहे अपने को नीचे गिरायें। यह कुमार जीवन ही ऊंचा या नीचा होने वाली है। ऐसी जीवन में आप बाप के बन गये। विनाशी जीवन के साथी के कर्मबन्धन में बंधने के बजाए सच्चा जीवन का साथी ले लिया। कितने भाग्यवान हो! अभी आये तो अकेले आये या कम्बाइन्ड होकर आये? (कम्बाइन्ड) टिकेट तो नहीं खर्च की ना? तो यह भी बचत हो गई। वैसे अगर शरीर के साथी को लाते तो टिकेट खर्च करते, उनका सामान भी उठाना पड़ता और कमाकर रोज़ खिलाना भी पड़ता। यह साथी तो खाता भी नहीं सिर्फ वासना लेते हैं। रोटी कम नहीं हो जाती और ही शक्ति भर जाती है। तो बिना खर्चा, बिना मेहनत के और साथी भी अविनाशी, सहयोग भी पूरा मिलता है। मेहनत नहीं लेते और सहयोग देते हैं। कोई मुश्किल कार्य आये, याद किया और सहयोग मिला। ऐसे अनुभवी हो ना! जब भक्तों को भी भक्ति का फल देने वाले हैं तो जो जीवन का साथी बनने वाले हैं उनको साथ नहीं देंगे? कुमार कम्बाइन्ड तो बने लेकिन इस कम्बाइन्ड में बेफिकर बादशाह बन गये। कोई झंझट नहीं, बेफिकर हैं। आज बच्चा बीमार हुआ, आज बच्चा स्कूल नहीं गया… ये कोई बोझ नहीं। सदा निर्बन्धन। एक के बन्धन में बंधने से अनेक बन्धनों से छूट गये। खाओ पियो मौज करो और क्या काम। अपने हाथ से बनाया और खाया, जो चाहो वह खाओ। स्वतंत्र हो। कितने श्रेष्ठ बन गये। दुनिया के हिसाब से भी अच्छे हो। समझते हो ना कि दुनिया के झंझटों से बच गये। आत्मा की बात छोड़ो, शरीर के कर्म बन्धन के हिसाब से भी बच गये। ऐसे सेफ हो। कभी दिल तो नहीं होती कि कोई ज्ञानी साथी बना दें? कोई कुमारी का कल्याण कर दें, ऐसी दिल होती है? यह कल्याण नहीं है – अकल्याण है। क्यों? एक बन्धन बंधा और अनेक बन्धन शुरू हुए। यह एक बन्धन अनेक बन्धन पैदा करता, इसलिए मदद नहीं मिलेगी। बोझ होगा। देखने में मदद है लेकिन है अनेक बातों का बोझ। जितना बोझ कहो उतना बोझ है। तो अनेक बोझ से बच गये। कभी स्वप्न में भी नहीं सोचना। नहीं तो ऐसा बोझ अनुभव करेंगे जो उठना ही मुश्किल। स्वतंत्र रहकर बन्धन में बंधे तो पदमगुणा बोझ होगा। वह अन्जान से बिचारे बंध गये आप जानबूझकर बंधेंगे तो और पश्चाताप का बोझ होगा। कोई कच्चा तो नहीं है? कच्चे की गति नहीं होती। न यहाँ का रहता, न वहाँ का रहता। आपकी तो सद्गति हो गई है ना। सद्गति माना श्रेष्ठ गति। थोड़ा संकल्प आता हैं? फोटो निकल रहा है। अगर कुछ नीचे ऊपर किया तो फोटो आयेगा। जितने पक्के बनेंगे उतना वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ है।

3. सभी समर्थ कुमार हो ना! समर्थ हो? सदा समर्थ आत्मायें जो भी संकल्प करेंगी, जो भी बोल बोलेंगी, कर्म करेंगी वह समर्थ होगा। समर्थ का अर्थ ही है व्यर्थ को समाप्त करने वाले। व्यर्थ का खाता समाप्त और समर्थ का खाता सदा जमा करने वाले। कभी व्यर्थ तो नहीं चलता? व्यर्थ संकल्प या व्यर्थ बोल या व्यर्थ समय। अगर सेकण्ड भी गया तो कितना गया। संगम पर सेकण्ड कितना बड़ा है। सेकण्ड नहीं लेकिन एक सेकण्ड एक जन्म के बराबर है। एक सेकण्ड नहीं गया एक जन्म गया। ऐसे महत्व को जानने वाले समर्थ आत्मायें हो ना। सदा यह स्मृति रहे कि हम समर्थ बाप के बच्चे हैं, समर्थ आत्मायें हैं, समर्थ कार्य के निमित्त हैं। तो सदा ही उड़ती कला का अनुभव करते रहेंगे। कमजोर उड़ नहीं सकते। समर्थ सदा उड़ते रहेंगे। तो कौन सी कला वाले हो? उड़ती कला या चढ़ती कला? चढ़ने में सांस फूल जाता है। थकते भी हैं, साँस भी फूलता है। और उड़ती कला वाले सेकण्ड में मंजिल पर सफलता स्वरूप बने। चढ़ती कला है तो जरूर थकेंगे, साँस भी फूलेगा – क्या करें, कैसे करें, यह साँस फूलता है। उड़ती कला में सबसे पार हो जाते। टचिंग आती है कि यह करें, यह हुआ ही पड़ा है। तो सेकण्ड में सफलता की मंजिल को पाने वाले इसको कहा जाता है समर्थ आत्मा। बाप को खुशी होती है कि सभी उड़ती कला वाले बच्चे हैं, मेहनत क्यों करें। बाप तो कहेंगे बच्चे मेहनत से बचे रहें। जब बाप रास्ता दिखा रहा है – डबल लाइट बना रहा है तो फिर नीचे क्यों आ जाते हो? क्या होगा, कैसे होगा यह बोझ है। सदा कल्याण होगा, सदा श्रेष्ठ होगा, सदा सफलता जन्म सिद्ध अधिकार है, इस स्मृति से चलो।

4. कुमारों को पेपर देने के लिए युद्ध करनी पड़ती है। पवित्र बनना है, यह संकल्प किया तो माया युद्ध करना शुरू कर देती है। कुमार जीवन श्रेष्ठ जीवन है। महान आत्मायें हैं। अभी कुमारों को कमाल करके दिखानी है। सबसे बड़े ते बड़ी कमाल है – बाप के समान बन बाप के साथी बनाना। जैसे आप स्वयं बाप के साथी बने हो ऐसे औरों को भी साथी बनाना है। माया के साथियों को बाप के साथी बनाना है – ऐसे सेवाधारी। अपने वरदानी स्वरूप से शुभ भावना और शुभ कामना से बाप का बनाना है। इसी विधि द्वारा सदा सिद्धि को प्राप्त करना है। जहाँ श्रेष्ठ विधि है वहाँ सिद्धि जरूर है। कुमार अर्थात् सदा अचल। हलचल में आने वाले नहीं। अचल आत्मायें औरों को भी अचल बनाती हैं।

5. सभी विजयी कुमार हो ना? जहाँ बाप साथ है वहाँ सदा विजय है। सदा बाप के साथ के आधार से कोई भी कार्य करेंगे तो मेहनत कम और प्राप्ति ज्यादा अनुभव होगी। बाप से थोड़ा सा भी किनारा किया तो मेहनत ज्यादा प्राप्ति कम। तो मेहनत से छूटने का साधन है – बाप का हर सेकण्ड हर संकल्प में साथ हो। इस साथ से सफलता हुई पड़ी है। ऐसे बाप के साथी हो ना? जो बाप की आज्ञा है उस आज्ञा के प्रमाण कदम हों। बाप के कदम के पीछे कदम हो। यहाँ कदम रखें या न रखें, राइट है या रांग है। यह सोचने की भी जरूरत नहीं। नया कोई रास्ता हो तो सोचना भी पड़े। लेकिन जब कदम पर कदम रखना है तो सोचने की बात नहीं। सदा बाप के कदम पर कदम रख चलते चलो, तो मंजिल समीप ही है। बाप कितना सहज करके देते हैं – श्रीमत ही कदम है। श्रीमत के कदम पर कदम रखो तो मेहनत से सदा छूटें रहेंगे। सर्व सफलता अधिकार के रूप में होगी। छोटे कुमार भी बहुत सेवा कर सकते हैं। कभी भी मस्ती नहीं करना, आप की चलन, बोल-चाल ऐसा हो जो सब पूछें कि यह किस स्कूल में पढ़ने वाले हैं। तो सेवा हो जायेगी ना। अच्छा!

वरदान:- श्रीमत की लगाम को टाइट कर मन को वश करने वाले बालक सो मालिक भव 
दुनिया वाले कहते हैं मन घोड़ा है जो बहुत तेज भागता है, लेकिन आपका मन इधर उधर भाग नहीं सकता क्योंकि श्रीमत का लगाम मजबूत है। जब मन-बुद्धि साइडसीन को देखने में लग जाती है तो लगाम ढीला होने से मन चंचल होता है इसलिए जब भी कोई बात हो, मन चंचल हो तो श्रीमत का लगाम टाइट करो तो मंजिल पर पहुंच जायेंगे। बालक सो मालिक हूँ – इस स्मृति से अधिकारी बन मन को अपने वश में रखो।
स्लोगन:- सदा निश्चय हो कि जो हो रहा है वो भी अच्छा और जो होने वाला है वो और भी अच्छा तो अचल-अडोल रहेंगे।
Font Resize