daily murli 31 july

TODAY MURLI 31 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 July 2020

31/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is a wonderful pathshala (school) in which neither the souls who study visible, nor the One who teaches visible. This is something new.
Question: What main teachings that no one receives in any other school do you receive in this school?
Answer: Here, the teachings that the Father gives His children are: Children, control your physical organs. Never have impure vision towards a sister. As souls, you are all brothers, and as children of Prajapita Brahma, you are brothers and sisters. You must never have bad thoughts. These teachings are not given anywhere except in this university.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land.

Om shanti. Neither are souls, who are residents of the faraway land, visible, nor is the Supreme Soul, the Resident of the faraway land, visible. It is just the one Supreme Soul and souls that cannot be seen with these eyes. Everything else can be seen. It is understood that I am a soul. Human beings understand that souls are separate from bodies. A soul comes from the faraway land and enters a body. You understand everything very clearly, even how souls come from the faraway land. Neither are souls visible nor is the Father, the Supreme Soul, who is teaching us, visible. You would not have heard this at any other spiritual gathering or in the scriptures. Neither would you have heard it nor would you have seen it. You now understand that we souls are invisible. It is the soul that has to study. It is the soul that does everything. This is something new which no one else can explain. The Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, is not visible. How can the incorporeal One teach? Just as souls enter bodies, so the Father, the Supreme Soul also enters the Lucky Chariot, Bhagirath. This chariot also has his own soul. He cannot see his own soul either. The Father comes and teaches you children with the support of this chariot. A soul sheds a body and takes the next one. A soul can be understood, but cannot be seen. The Father who cannot be seen is teaching you. This is something completely new. The Father says: I come at My own time, according to the dramaplan, and adopt this body. How else would I be able to liberate you sweetest children from sorrow? You children have now awakened. All human beings in the world are still asleep. They will stay asleep until they come to you to understand these things and become Brahmins. Anyone can go and sit in others satsangs, but no one can come here just like that because this is a school. If you were to go and sit for an examination to become a barrister, you wouldn’t be able to understand anything. This is something completely new. The One who is teaching cannot be seen. Even the ones studying are invisible too. The souls inside listen and imbibe everything. Internally, faith continues to develop that this is absolutely right: that neither the Supreme Soul nor souls can be seen. It is understood with the intellect that I am a soul. Some don’t even believe this and simply say that this is nature. They even try to describe it. There are many opinions. You children have to remain busy in this knowledge. You also have to control your physical organs, which deceive you. The main things are the eyes; they see everything. It is when your eyes see your child that you say: This is my child. How else could this be understood? When someone is born blind, it is explained to him, “This is your brother.” He cannot see him, but he can understand with his intellect. In fact, if someone is blind like Surdas (one who blinded himself) he can take this knowledge very well, because he wouldn’t have eyes to deceive himself. Although he may not be able to do anything else, he would be able to take this knowledge very well. He wouldn’t see any women. It is when one sees someone that the intellect is pulled and one may even want to hold that person. If one can’t see the person, how could one go and hold her? Therefore, the Father says: Have full control over your physical organs. Don’t look at a sister with criminal, impure vision. You are all brothers and sisters. There shouldn’t be the slightest thought of impure vision. Nowadays, in the iron age, even the relationship between a brother and a sister is sometimes not right. However, according to the law, you brothers and sisters mustn’t have bad thoughts about one another. We are the children of the one Father. Baba gives directions: You are Brahma Kumars and Kumaris. Therefore, the fact that you are brothers and sisters must be made very firm. You souls are brothers, the children of God. Then, while you are in those bodies, you are brothers and sisters because you have been adopted through Prajapita Brahma. There must not be impure vision. Understand this very firmly: I am a soul. Baba is teaching us; I, a soul, am studying through this body. These are my organs. I, this soul, am separate from them. I act through these physical organs. I am not the physical organs. I, a soul, am separate from them. I have taken this body to play my partthis too, a spiritual part. No human beings, apart from you, can play this part. Repeatedly consider yourselves to be souls and remember the Father. He is also our Teacher and Guru. Those physical fathers, teachers and gurus are all separate. That incorporeal One is the Father, Teacher and Guru, all in one. Here, you children are receiving new teachings. The Father, Teacher and Guru, all three, are incorporeal. I, this incorporeal soul, am studying. It is only now that it can be understood how souls have remained separated from the Supreme Soul for a long time. It is now, when He comes here to purify you, that you meet the Father again. Souls will go and meet again in the incorporeal world. There is no play there; that is our home. That is just the place where all souls reside. At the end, all souls will go back there. Souls come here to play their parts. They cannot return in between. The parts have to be played until the end. Souls have to continue to take rebirth until all souls have come down. From being satopradhan, they all go through the stages of sato, rajo and tamo. Then, at the end, when the play is about to end, souls have to change again from tamopradhan and become satopradhan. The Father is explaining everything very clearly. The path of knowledge is the truth. It is said: Satyam, Shivam, Sundaram. (The Truth, the Benefactor and the Beautiful One). It is the one Father who speaks the truth. In order to become an effort-maker at this confluence age, you keep the company of only that One who is the Truth. This is the satsang where the Father comes and meets His children. All other company is bad. It is said: The company of the Truth takes you across, whereas bad company drowns you. Bad company is Ravan’s company. The Father says: I take you across. So, who then drowns you? You also have to be told how you become tamopradhan. Maya, the enemy, is in front of you whereas Shiv Baba is your Friend. He is called the Husband of all husbands. This praise does not belong to Ravan. They simply say that he is Ravan, that’s all. Why do they burn an effigy of Ravan? You can do a great deal of service there (where they burn Ravan’s effigy). No human beings know who Ravan is, when he comes or why they burn him. There is blind faith. Just as those people relate the scriptures with great authority, so you children too have the authority to explain this. Those who listen to them become very intoxicated. They even continue to give them money and ask them to teach Sanskrit and the Gita. They give a lot of money for that. The Father explains: Children, you have been wasting so much time and money. Those who belong to this Brahmin clan will continue to come to you. This is why you hold exhibitions etc. Those who are flowers that belong here will definitely come. This tree continues to grow. The Father sowed the one seed of Brahma and then the Brahmin clan emerged from that; it continued to grow from one. First, the family members came, then friends and then their relatives began to come. Then, on hearing of this, so many began to come. They believed that this too was a satsang. However, here, because of having to make effort to remain pure, there was so much upheaval. Even now it still continues to take place. This is why there are insults. They say: He abducted women to make them into his queens. However, they will become queens in heaven, will they not? Therefore, they will definitely have to be made pure here. You tell everyone that this is the knowledge to become emperors and empresses. You are listening to the true God telling the true story of becoming true Narayan from an ordinary human. This Lakshmi and Narayan cannot be called a god and goddess. However, worshippers do not believe in the image of Narayan as much as they do in the image of Krishna. Many people buy pictures of Krishna. Why is there so much respect for Krishna? Because he is a small child. Little children are considered to be more elevated than great souls (mahatmas) because mahatmas normally have a household which they then renounce. There are some who remain celibate from birth, but they are still aware of what lust and anger are. Little children are unaware of those vices. This is why they are considered to be more elevated than the great souls. This is why Krishna is given greater respect. Worshippers become very happy when they see an image of Krishna. They speak of Lord Krishna in Bharat. Even the daughters have a great deal of love for Krishna. They want to have a husband or a child like him. Krishna has great attraction because he is satopradhan. The Father continues to say: The more you stay in remembrance, the more you will change from tamopradhan and become tamo and then rajo and the happier you will also become. At first, when you were satopradhan, you were very happy. Then, your degrees gradually continued to decrease. The more you stay in remembrance, the happier you will feel and you will continue to be transferred. From tamo, you will continue to go through the stages of rajo and sato and your strength, happiness and virtues will also continue to increase. At this time, your stage is ascending. The Sikhs sing: When your stage ascends, everyone benefits. You know that your stage is now ascending by having this remembrance. The more you stay in remembrance, the higher your stage will ascend. You have to become full. When there is just a line of the moon left, it then gradually continues to increase until it becomes the full moon. It is the same for you. When the moon is eclipsed, it is said: Give a donation so that the bad omens are removed. You cannot donate the five vices instantly. Your eyes deceive you so much. Some don’t even understand that their vision is impure. Since you have become Brahma Kumars and Kumaris, you are brothers and sisters. Then, if you have a desire to touch someone, it means your brotherly love has finished and it has become criminal love. The consciences of some bite them and they think: Now that I belong to the Father, no one should look at me with impure vision or touch me. Then they say: Baba, this person touched me and I don’t like it. Baba would then say in the murli: By doing that, your stage won’t remain good. Although they may be able to give knowledge and explain to others very well, they don’t have that stage. There is bad vision. This world is so dirty! You children understand that this destination is very high. You should be very sensible and stay in remembrance of the Father. We are Brahma Kumars and Kumaris. We have a spiritual connection, not a blood connection. In fact, everyone is born through blood. There is also blood connection in the golden age. However, there, you receive your bodies through the power of yoga. Some ask: How can children be born unless there is vice? The Father says: That is the viceless world. Vices do not exist there. If you were stripped there, then that too would be Ravan’s kingdom and there would be no difference between there and here. These matters have to be understood. It does require a great deal of effort to stop impure vision. When girls and boys study together at college, many have a criminal eye. You children understand that you are the children of God, the Father. Therefore, you are brothers and sisters. Then, why do you have impure vision? You all say that you are the children of God. Souls are incorporeal children anyway. Then, when the Father creates His children, He will definitely create physical Brahmins. Prajapita Brahma would have to be corporeal would he not? That is adoption; you are adopted children. How the world was created through Prajapita Brahma doesn’t enter the intellects of human beings at all. You are Brahma Kumars and Kumaris, children of Prajapita Brahma. Therefore, you are brothers and sisters. You must be very careful about having impure vision. Many find this difficult. If you want to claim the highest status of all, you have to make effort. The Father says: Become pure! Some listen to this one too (Brahma), whereas others don’t. This requires a great deal of effort. How can you become elevated unless you make effort? You children have to remain cautious. To be a brother and sister means to be the children of the one Father. Therefore, why should there be impure vision? You children understand when Baba tells you correctly that there is criminal vision. Women as well as men have impure vision. Your destination is very high. Many of you can relate knowledge, but your behaviour has to be filled with purity. This is why Baba says: The eyes are the most deceptive. The mouth also meows when the eyes see something and then your heart says you want to eat it. Therefore, you have to conquer your physical organs. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Your behaviour has to be filled with purity. In order to stop any impure vision and bad thoughts, consider yourself to be a soul, separate from your physical organs.
  2. Make the connections between yourselves spiritual. Do not have any blood connection. Your time and money areinvaluable. Don’t waste them! Remain very careful about the influence of the company you keep.
Blessing: May you be a bestower of blessings and a great donor, like the Father and take blessings and donate at the time of brahm-muhurat.
At the time of brahm-muhurat (Amrut vela), the Father, the Resident of Brahmlok, especially blesses you children with rays of light and might of the Sun of Knowledge. Along with that, Father Brahma, as the Bestower of Fortune, also distributes the nectar of fortune. You simply have to make sure that the urn of your intellect is ready to imbibe that nectar; let there be no type of obstacle or obstruction. You can then use that auspicious time to make your stage elevated and thereby perform elevated acts for the whole day. The atmosphere at amrit vela can change your attitude, so at that time, take blessings and donate, that is, be one who is blessed and who becomes a great donor.
Slogan: It is the duty of an angry person to get angry, and your duty is to give love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

31-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह वन्डरफुल पाठशाला है जिसमें तुम पढ़ने वाली आत्मा भी देखने में नहीं आती तो पढ़ाने वाला भी दिखाई नहीं देता, यह है नई बात”
प्रश्नः- इस पाठशाला में तुम्हें मुख्य शिक्षा कौन-सी मिलती है जो और कोई पाठशाला में नहीं दी जाती?
उत्तर:- यहाँ बाप अपने बच्चों को शिक्षा देते हैं – बच्चे, अपनी कर्मेन्द्रियों को वश में रखना। कभी भी किसी बहन पर बुरी दृष्टि न हो। तुम आत्मा रूप में भाई-भाई हो और प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे बहन-भाई हो। तुम्हें बुरे ख्यालात कभी नहीं आने चाहिए। ऐसी शिक्षा इस युनिवर्सिटी के सिवाए कहीं भी नहीं दी जाती।
गीत:- दूर देश का रहने वाला……..

ओम् शान्ति। न दूरदेश की रहने वाली आत्मा देखने में आती है, न दूरदेश में रहने वाला परमात्मा देखने में आता है। एक ही परमात्मा और आत्मा है जो इन आंखों से देखने में नहीं आते हैं। और सब चीजें देखने में आती हैं। यह समझने में आता है कि हम आत्मा हैं। यह मनुष्य समझते हैं कि आत्मा अलग है, शरीर अलग है। आत्मा दूरदेश से आकर शरीर में प्रवेश करती है। तुम हर एक बात को अच्छी रीति समझ रहे हो। हम आत्मा कैसे दूरदेश से आती हैं। आत्मा भी देखने में नहीं आती, पढ़ाने वाला बाप परमात्मा भी देखने में नहीं आता। ऐसा तो कभी कोई सतसंग में अथवा शास्त्रों में सुना नहीं। न कभी सुना, न कभी देखा। अभी तुम जानते हो हम आत्मा देखने में नहीं आती। आत्मा को ही पढ़ना है। आत्मा ही सब कुछ करती है ना। यह नई बात है ना जो और कोई समझा न सके। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है, वह भी देखने में नहीं आता। निराकार पढ़ाये कैसे? आत्मा भी शरीर में आती है ना। वैसे परमपिता परमात्मा बाप भी भाग्यशाली रथ अथवा भागीरथ में आते हैं। इस रथ को भी अपनी आत्मा है। वह भी अपनी आत्मा को देख थोड़ेही सकते हैं। बाप इस रथ के आधार से आकर बच्चों को पढ़ाते हैं। आत्मा भी एक शरीर छोड़ फिर दूसरा लेती है। आत्मा की पहचान है, देखी नहीं जाती है। वह बाप जो देखा नहीं जाता, वह तुमको पढ़ा रहे हैं। यह है बिल्कुल नई बात। बाप कहते हैं मैं भी ड्रामा प्लैन अनुसार अपने समय पर आकर शरीर धारण करता हूँ। नहीं तो तुम मीठे-मीठे बच्चों को दु:ख से कैसे छुड़ाऊं। अब तुम बच्चे जागे हुए हो। दुनिया के मनुष्य सब सोये हुए हैं। जबकि तुम्हारे पास आकर समझें और ब्राह्मण बनें। और सतसंगों में कोई भी जाकर बैठ सकते हैं। यहाँ ऐसे कोई आ न सके क्योंकि यह पाठशाला है ना। बैरिस्टरी के इम्तहान में तुम जाकर बैठो तो कुछ भी समझ नहीं सकेंगे। यह है बिल्कुल नई बात। पढ़ाने वाला भी देखने में नहीं आता। पढ़ने वाले भी देखने में नहीं आते। आत्मा अन्दर सुनती है, धारण करती है। अन्दर निश्चय होता जाता है। यह बात तो बरोबर ठीक है। परमात्मा और आत्मा दोनों देखने में नहीं आते। बुद्धि से समझा जाता है – मैं आत्मा हूँ। कई तो यह भी नहीं मानते, कह देते नेचर है। फिर उसका वर्णन भी करते हैं। अनेक मत हैं ना। तुम बच्चों को इस नॉलेज में बिजी रहना है। कर्मेन्द्रियाँ जो धोखा देती हैं, उनको भी वश में करना है। मुख्य हैं आंखें जो सब कुछ देखती हैं। आंखें ही बच्चा देखती है तो कहती है यह हमारा बच्चा है। नहीं तो समझें कैसे! कोई जन्म से ही अन्धे होते हैं तो फिर उनको समझाते हैं यह तुम्हारा भाई है, देख नहीं सकते। बुद्धि से समझते हैं। वास्तव में कोई अंधे सूरदास हो तो ज्ञान को अच्छा उठा सकते हैं, क्योंकि धोखा देने वाली आंखें नहीं हैं। भल और कुछ काम वह न कर सके, ज्ञान अच्छा ले सकते हैं। स्त्री को भी नहीं देखेंगे। दूसरों को देखें तो बुद्धि जाये। उनको पकड़ें भी। देखते ही नहीं तो पकड़ें कैसे? तो बाप समझाते हैं कर्मेन्द्रियों को पक्का करना है। क्रिमिनल अर्थात् बुरी दृष्टि से किसी भी बहन को नहीं देखना है। तुम भी बहन-भाई हो ना। बुरी दृष्टि का ज़रा भी ख्याल न आये। भल आजकल कलियुग है, भाई-बहन भी खराब हो पड़ते हैं। परन्तु लॉ मुजीब भाई-बहन के बुरे ख्यालात नहीं रहेंगे।

हम एक बाप के बच्चे हैं। बाबा डायरेक्शन देते हैं – तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हो तो यह ज्ञान पक्का हो जाना चाहिए कि हम भाई-बहन हैं। हम आत्मायें भगवान के बच्चे भाई-भाई हैं फिर शरीर में प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा भाई-बहन बनते हैं क्योंकि एडाप्ट होते हैं ना। बुरी दृष्टि जा न सके। यह पक्का-पक्का समझो – हम आत्मा हैं। बाबा हमको पढ़ाते हैं, हम आत्मा पढ़ते हैं इस शरीर से। यह आरगन्स हैं। हम आत्मा इनसे अलग हैं, इन कर्मेन्द्रियों से हम कर्म करता हूँ। मैं कर्मेन्द्रियाँ थोड़ेही हूँ। मैं इनसे न्यारी आत्मा हूँ। यह शरीर लेकर पार्ट बजाता हूँ, सो भी अलौकिक। और कोई मनुष्य यह पार्ट नहीं बजाते। तुम बजाते हो। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। फिर वही हमारा टीचर भी है, गुरू भी है। वह साकार बाप-टीचर-गुरू अलग-अलग होते हैं। यह निराकारी एक ही बाप-टीचर-गुरू है। यहाँ बच्चों को अब नई शिक्षा मिल रही है। बाप-टीचर-गुरू तीनों निराकारी हैं। हम भी निराकार आत्मा पढ़ती हैं तब तो समझा जाए आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल। मिलना यहाँ ही होता है। जबकि बाप को आकर पावन बनाना होता है। मूलवतन में आत्मायें जाकर मिलेंगी। वहाँ तो कोई खेल नहीं, वह तो है अपना घर। वहाँ सब आत्मायें रहती हैं। अन्त में सब आत्मायें वहाँ चली जायेंगी। आत्मायें जो पार्ट बजाने आती हैं, वह बीच से वापस जा नहीं सकती। अन्त तक पार्ट बजाना है। पुनर्जन्म लेते रहना है, ताकि सब आ जाएं। सतोप्रधान से सतो-रजो-तमो में आ जाएं। फिर पिछाड़ी में नाटक पूरा होता है तो तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। बाप सब बातें तो ठीक समझाते हैं ना। ज्ञान मार्ग है ही सत्य। सत्यम् शिवम् सुन्दरम् कहा जाता है ना। सत्य बोलने वाला एक बाप है, इस संगम पर पुरूषार्थी बनने के लिए यह एक ही सत का संग होता है। बाप जब आते हैं, बच्चों से मिलते हैं, तब उसको ही सतसंग कहा जाता है। बाकी सब हैं कुसंग। गाया जाता है – सत का संग तारे कुसंग बोरे…… कुसंग है रावण का। बाप कहते हैं मैं तो तुमको पार ले जाता हूँ। फिर तुमको डुबोते कौन हैं? तमोप्रधान कैसे बन जाते हो, वह भी बताना पड़ता है। सामने दुश्मन है माया। शिवबाबा है मित्र। उनको कहा जाता है – पतियों का पति। यह महिमा कोई रावण की नहीं है। सिर्फ कहेंगे रावण है, बस और कुछ नहीं। रावण को क्यों जलाते हैं? वहाँ भी तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। कोई भी मनुष्यमात्र नहीं जानते कि रावण कौन है? कब आते हैं, क्यों जलाते हैं? ब्लाइन्डफेथ है ना। तुम बच्चों को समझाने की अथॉरिटी है। जैसे वह शास्त्र अथॉरिटी से सुनाते हैं ना। सुनने वाले भी बड़े मस्त होते हैं। पैसे देते रहते हैं। संस्कृत सिखाओ, गीता सिखाओ। इसके लिए भी बहुत पैसे देते हैं। बाप समझाते हैं बच्चे तुम कितना वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट ऑफ मनी करते आये हो।

तुम्हारे पास जो इस ब्राह्मण कुल के होंगे वह आते रहेंगे इसलिए तुम प्रदर्शनी आदि करते हो। यहाँ का फूल होगा तो आयेगा जरूर। यह झाड़ बढ़ता जाता है। बाप ने बीज लगाया है एक ब्रह्मा उनसे फिर ब्राह्मण कुल होता। एक से बढ़ते गये। पहले घर वाले फिर मित्र-सम्बन्धी आसपास वाले आने लगे। फिर सुनते-सुनते कितने आ जाते हैं। समझते हैं यह भी सतसंग है। परन्तु इसमें है पवित्रता की मेहनत, जिससे ही हंगामा हुआ। अभी भी होते रहते हैं इसलिए गालियाँ देते हैं। कहते हैं भगाते थे, पटरानी बनाते थे। पटरानी तो स्वर्ग में बनेंगी ना। जरूर यहाँ पवित्र बनाया होगा। तुम सबको सुनाते हो – यह महारानी-महाराजा बनने के लिए नॉलेज है। नर से नारायण बनने की सच्ची-सच्ची कथा तुम सच्चे भगवान से सुनते हो। इन लक्ष्मी-नारायण को कोई भगवान-भगवती कह नहीं सकते। परन्तु पुजारी लोग नारायण के चित्र को इतना नहीं मानते जितना कृष्ण को। कृष्ण के चित्र बहुत खरीद करते हैं। कृष्ण का इतना मान क्यों है? क्योंकि छोटा बच्चा है ना। महात्मा से भी बच्चों को ऊंच रखते हैं क्योंकि महात्मायें तो घरबार आदि सब बनाकर फिर छोड़ते हैं। कोई बाल ब्रह्मचारी भी होते हैं। परन्तु उनको मालूम है काम-क्रोध क्या होते हैं। छोटे बच्चे को पता नहीं रहता इसलिए महात्मा से ऊंच कहा जाता है इसलिए कृष्ण को जास्ती मान देते हैं। कृष्ण को देख बहुत खुश होते हैं। भारत का लार्ड कृष्णा है। बच्चियां भी कृष्ण को बहुत प्यार करती हैं। इन जैसा पति मिले, इन जैसा बच्चा मिले। कृष्ण में कशिश बहुत है। सतोप्रधान है ना। बाप कहते रहते, जितना याद में रहेंगे उतना तमोप्रधान से तमो रजो में आते जायेंगे और खुशी भी होगी। पहले तुम सतोप्रधान थे तो बहुत खुशी में थे फिर कला कम होती जाती है। तुम जितना याद करते रहेंगे तो सुख भी इतना फील होगा और तुम ट्रांसफर होते जायेंगे। तमो से रजो सतो में आते जायेंगे तो ताकत, खुशी, धारणा बढ़ती जायेगी। इस समय तुम्हारी चढ़ती कला है। सिक्ख लोग गाते भी हैं तेरे भाने सर्व का भला। तुम जानते हो अभी हमारी चढ़ती कला होती है याद से। जितना याद करेंगे उतना ऊंच चढ़ती कला होगी। सम्पूर्ण बनना है ना। चन्द्रमा की भी लकीर रह जाती है फिर कला बढ़ते-बढ़ते सम्पूर्ण बन जाता है। तुम्हारा भी ऐसे है। चन्द्रमा पर भी ग्रहण लगता है तो कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। तुम फट से 5 विकारों का दान दे नहीं सकते हो। आंखें भी कितना धोखा देती हैं। समझते नहीं कि हमारी बुरी दृष्टि जाती है। हम जबकि ब्रह्माकुमार-कुमारी बनें तो भाई-बहन हो गये। फिर अगर दिल होती है इनको हाथ लगायें, तो वह ब्रदर्ली लव निकल स्त्रीपने का क्रिमिनल लव हो जाता है। कोई को दिल अन्दर खाता है हम बाप के बने हैं तो हमको कोई भी बुरी दृष्टि से हाथ लगा नहीं सकते। फिर कहते हैं बाबा हमको यह हाथ लगाते हैं, हमको अच्छा नहीं लगता। बाबा फिर मुरली चलाते हैं – इससे तुम्हारी अवस्था ठीक नहीं रहेगी। भल मुरली बहुत अच्छी सुनाते, बहुतों को समझाते हैं परन्तु अवस्था नहीं है। बुरी दृष्टि हो जाती है। इतनी गन्दी दुनिया है। बच्चे समझते हैं मंजिल बहुत ऊंची है। बाप की याद में सेन्सीबुल हो रहना है। हम ब्रह्माकुमार-कुमारी हैं। हमारा रूहानी कनेक्शन है, ब्लड कनेक्शन नहीं है। यूँ तो ब्लड से सब पैदा होते हैं, सतयुग में भी ब्लड कनेक्शन होता है परन्तु वह शरीर योगबल से मिलता है। कहेंगे विकार बिगर बच्चे पैदा कैसे होंगे! बाप कहते हैं वह है ही निर्विकारी दुनिया, वहाँ विकार होता ही नहीं। वहाँ भी अगर नंगन हों तो वहाँ भी रावण राज्य हो जाए। फिर यहाँ और वहाँ में फर्क ही क्या रहा! यह समझने की बातें हैं। बुरी दृष्टि मिट जाना बड़ी मेहनत लगती है। कालेजों में बच्चे-बच्चियां इकट्ठे पढ़ते हैं, तो बहुतों की क्रिमिनल आई हो जाती है। बच्चों को समझना है हम गॉड फादर के बच्चे हैं तो आपस में बहन-भाई हो गये। फिर बुरी दृष्टि क्यों रखते। सब कहते भी हैं हम ईश्वर की सन्तान हैं। आत्मायें तो हुई निराकारी सन्तान। फिर बाप रचते हैं तो जरूर साकारी ब्राह्मण रचेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा तो साकार होगा ना। वह हो गई एडाप्शन। गोद के बच्चे। मनुष्यों की बुद्धि में यह बिल्कुल नहीं आता कि प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा सृष्टि कैसे रची।

तुम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियां भाई-बहन ठहरे। बुरी दृष्टि की बड़ी खबरदारी चाहिए। इसमें बहुतों को दिक्कत होती है। ऊंच ते ऊंच पद पाना है तो मेहनत करनी है। बाप कहते हैं पवित्र बनो। इनका भी कोई मानते हैं, कोई नहीं मानते। बड़ी मेहनत है। मेहनत बिगर ऊंच कैसे बनेंगे? बच्चों को खबरदार रहना है। भाई-बहन का अर्थ ही है – एक बाप के बच्चे, फिर बुरी दृष्टि क्यों जानी चाहिए। बच्चे समझते हैं बाबा ठीक कहते हैं – हमारी क्रिमिनल दृष्टि जाती है। स्त्री की भी जाती है, तो पुरूष की भी जाती है। मंजिल है ना। नॉलेज तो बहुत सुनाते हैं परन्तु जबकि चलन भी पवित्रता की हो इसलिए बाबा कहते हैं सबसे जास्ती धोखा देने वाली यह आंखें हैं। मुख भी म्याऊं-म्याऊं तब करता है जब आंखों से चीज़ देखते हैं तब दिल होती है यह खाऊं इसलिए कर्मेन्द्रियों पर जीत पानी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पवित्रता की चलन अपनानी है। बुरी दृष्टि, बुरे ख्यालात समाप्त करने के लिए अपने को इन कर्मेन्द्रियों से न्यारा आत्मा समझना है।

2) आपस में रूहानी कनेक्शन रखना है, ब्लड कनेक्शन नहीं। अपना अमूल्य टाइम और मनी वेस्ट नहीं करना है। संगदोष से अपनी बहुत-बहुत सम्भाल करनी है।

वरदान:- ब्रह्म-महूर्त के समय वरदान लेने और दान देने वाले बाप समान वरदानी, महादानी भव
ब्रहम महूर्त के समय विशेष ब्रह्मलोक निवासी बाप ज्ञान सूर्य की लाईट और माइट की किरणें बच्चों को वरदान रूप में देते हैं। साथ-साथ ब्रह्मा बाप भाग्य विधाता के रूप में भाग्य रूपी अमृत बांटते हैं सिर्फ बुद्धि रूपी कलष अमृत धारण करने योग्य हो। किसी भी प्रकार का विघ्न या रूकावट न हो, तो सारे दिन के लिए श्रेष्ठ स्थिति वा कर्म का महूर्त निकाल सकते हो क्योंकि अमृतवेले का वातावरण ही वृत्ति को बदलने वाला होता है इसलिए उस समय वरदान लेते हुए दान दो अर्थात् वरदानी और महादानी बनो।
स्लोगन:- क्रोधी का काम है क्रोध करना और आपका काम है स्नेह देना।

TODAY MURLI 31 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 July 2019:- Click Here

31/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the festival of Raksha Bandhan which begins at the confluence age is the festival of making a promise. You now promise to become pure and enable others to become pure.
Question: On what basis can all your tasks be successful? How will your name be glorified?
Answer: Along with the power of knowledge, you have to have the power of yoga. Everyone will then automatically become ready to do all the tasks. Yoga is very incognito; through this you become the masters of the world. When you explain whilst in yoga, newspaper people will automatically print your message. It will be through the newspapers that your name will be glorified. Many will receive the message through them.

Om shanti. Today Baba will explain to the children about Raksha Bandhan, because it is coming close. You children go to tie rakhi on others. The festivals that are celebrated now are of the things that happened in the past. You children know that you were asked to write a letter and make this promise 5000 years ago as well. This has been given many different names. This is a symbol of purity. You have to tell everyone to have a rakhi of becoming pure tied. You also know that the pure world starts at the beginning of the golden age. The festival of Rakhi begins at this most auspicious confluence age. It is later celebrated when the path of devotion begins. This is called an eternal festival. When does that begin?On the path of devotion, because there are no festivals in the golden age; they exist here. All the festivals etc. take place at the confluence age. They will then start again on the path of devotion. There are no festivals in the golden age. You may ask: Will there be Deepmala in the golden age? No; that too is celebrated here. It will not be celebrated there. That which you celebrate here will not be celebrated there. All of these festivals are of the iron age. People celebrate Raksha Bandhan. Now, how can they know why Rakhi is celebrated? You go and tie a rakhi on everyone. You tell them: Become pure because the pure world is being established. It is written on the picture of the Trimurti: Establishment of the pure world takes place through Brahma. This is why the tying of rakhi to become pure is celebrated. This is now the time of the path of knowledge. It has been explained to you children that if anyone says anything to you about the path of devotion, you should explain to them that you are now on the path of knowledge. Only God is the Ocean of Knowledge. Only He can make the whole world viceless. When Bharat was viceless, the whole world was viceless. By Bharat being made viceless, the whole world becomes viceless. Bharat cannot be called a world. Bharat is only one land out of many lands in the world. You children know that there is only the land of Bharat in the new world. There must surely have been human beings living in the land of Bharat. Bharat was the land of truth. At the beginning of the cycle, there was only the deity religion. That is called the viceless pure religion which came into existence 5000 years ago. This old world is now only going to remain for a short while longer. How many days does it take to become viceless? It does take time. Here, too, you make effort to become pure. This is the greatest festival of all. You have to make a promise: Baba we will definitely become pure. This festival should be considered to be the greatest. Everyone calls out: O Supreme Father, Supreme Soul! Even after they say this, the Supreme Father does not enter their intellects. You understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, comes to give knowledge to human souls. Souls have been separated from the Supreme Soul for a long a time; this meeting (mela) only takes place at the confluence age. This meeting, which only takes place once every 5000 years, is also called the “Kumbh Mela”. People have continued to celebrate many times that mela of bathing in the waters. That belongs to the path of devotion. This is the path of knowledge. A confluence is called a kumbh (gathering). In fact there are not three rivers. How can there be an incognito river of water? The Father says: It is this Gita of yours that is incognito. Therefore, it is explained to you that you claim your kingdom of the world through the power of yoga. There is no singing or dancing etc. involved in this. The path of devotion lasts for exactly half the cycle, whereas this path of knowledge lasts for one life. Then, for two ages, there is the reward of knowledge, but knowledge itself does not continue. The path of devotion continues throughout the copper and iron ages. Only once do you receive knowledge and its reward lasts for 21 births. Your eyes have now opened. Previously, you were sleeping in the sleep of ignorance. Brahmin priests now tie the rakhis on this festival of Rakhi. You too are Brahmins. They are born through sin whereas you are born through the mouth. There is so much blind faith on the path of devotion. They are trapped in quicksand. Just as your feet get trapped in quicksand, similarly, human beings become trapped in the quicksand of devotion to such an extent that they sink into it up to their necks. When only your topknots remain, the Father then comes once again to catch hold of you in order to rescue you. You children work very hard to explain. There are millions of people and it takes effort to go to each one. You were slandered in the newspapers which said that you make people renounce their homes and make them into brothers and sisters. The things that happened in the beginning were spread around so much by the newspapers. Now, you cannot explain to each one. Therefore, the newspapers will be of use to you later on. Your name will be glorified through the newspapers. You now have to think about how to make people understand what the real meaning of Raksha Bandhan is. Since the Father has come to purify you, He takes the promise you children make to become pure. The one Purifier ties a rakhi on you. People celebrate the birth of Krishna. So he must surely have sat on the throne. However, they never show the coronation. Lakshmi and Narayan existed at the beginning of the golden age; their coronation must have taken place. They celebrate the birth of the prince, but where is the coronation? The coronation takes place at the time of Diwali. There is a great deal of splendour in the golden age. The things of the confluence age do not exist there. It is here that there will be light in every home. You do not celebrate Diwali etc. there. There, the lights of souls remain ignited. There, the coronation, not Diwali will be celebrated. Souls cannot return home until their lights are ignited. All souls are now impure and so you have to think about how to make them pure. You children have to think about this and go to eminent people. You children have been defamed by the newspapers and your name will also be glorified by them. They would print good things if you gave them a small amount of money. Now, for how long can you keep giving them money? To give money is like bribery and is against the law. Nowadays, nothing happens without bribery. If others give bribes and you also give bribes, there would then be no difference between the two. Yours is the aspect of the power of yoga. You should have so much yoga power that you can make anyone do anything. Continue to buzz knowledge to them. You also have the power of knowledge. There is knowledge in all of these pictures etc; yoga is incognito. In order to claim the unlimited inheritance, you have to consider yourselves to be souls and remember the Father. This is incognito and it is through this that you become the masters of the world. You can sit anywhere and have remembrance. Whilst sitting here, you are not just having yoga, but deep yoga. Knowledge and yoga are both easy. Simply take the seven days’ course and that’s enough. There is no need for anything more. Then you can go and make others similar to yourself. The Father is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. These are the two main aspects. You are claiming your inheritance of peace from Him. Remembrance is very subtle. You children can tour around by all means, but you do have to remember the Father. You have to become pure and imbibe divine virtues. You should not have any defects within you. Lust too is a great defect. The Father says: Do not now become impure. Even if a female is in front of you, consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. Do not see even whilst seeing. We are remembering our Father; He is the Ocean of Knowledge. He is making you similar to Himself, and so you also become oceans of knowledge. You should not become confused about this. He is the Supreme Soul. He resides in the supreme region, which is why He is called the Supreme. You also reside there. You are now taking knowledge, numberwise, according to the efforts you make. Those who pass with honourare said to have become full oceans of knowledge. The Father is the Ocean of Knowledge and you are also becoming oceans of knowledge. Souls are not larger or smaller. Even the Supreme Soul is not large. It has been said that He is brighter than a thousand suns. All of those are tall stories. In whatever form your intellect remembers Him, so you have a vision of that form. This requires understanding. Whether you have a vision of a soul or the Supreme Soul, it is the same thing. The Father has made you realize that He alone is the Purifier and the Ocean of Knowledge. He comes at the appropriate time to grant salvation to everyone. You are the ones who have performed the most devotion, and so it is you that the Father teaches. After Raksha Bandhan, there is the festival of the birth of Krishna and then Dashera. In fact, Krishna cannot come before Dashera. Dashera should be celebrated before Krishna’s birth. You can account for this. Previously, you did not understand anything. The Father now makes you very sensible. The Teacher too makes you sensible. You now understand that God’s form is a point, whereas the tree is huge. Souls reside up above as points. This has been explained to you sweetest children. Actually, you should become sensible within a second. However, people have such stone intellects that they don’t understand anything when, in fact, it should only take a second. In every birth you have had new limited fathers. That unlimited Father only comes once and gives you the inheritance for 21 births. You are now claiming the unlimited inheritance from the unlimited Father. Your lifespan also becomes long. It is not that you will have the same father for 21 births; no. Your lifespan becomes longer. You will not see any sorrow. Later on, this knowledge will remain in your intellects: You have to remember the Father and claim your inheritance. As soon as a son is born, he becomes an heir. Now that you have recognized the Father, remember the Father and the inheritance and become pure; imbibe divine virtues. The Father and the inheritance are so easy. Your aim and objective are in front of you. You children now have to think of ways of explaining in the newspapers. You have to give them the picture of the Trimurti because establishment through Brahma has to be explained. The Father has come to purify Brahmins which is why they have a rakhi tied. The Purifier is purifying Bharat. He is making everyone pure because the pure world is now being established. You have now completed your 84 births. Those who have taken many births will continue to understand clearly. Those who come later on will not experience as much happiness because they would have done less devotion. The Father comes to give you the fruit of your devotion. You now understand who has performed the most devotion. You are the ones who come in the first numberYou are the ones who did unadulterated devotion. Ask yourself: Have I done more devotion or has this one? Those who do the most powerful service must surely have done a lot of devotion. Baba mentions their names: There is Kumarka, Janak, Manohar, Gulzar. All are numberwise. However, you cannot be made to sit here numberwise. Therefore, you have to think how you can write about Raksha Bandhan in the newspapers. It is fine to go to ministers etc. to tie a rakhi on them. However, they do not become pure. You say: Become pure and the new world can be established. You have been vicious for 63 births. Now, the Father says: Become pure in this final birth. Remember God so that the sins on your head can be removed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to pass with honours,become an ocean of knowledge like the Father. Examine yourself to see whether you have any defects inside you and remove them. Do not see anyone’s body even whilst seeing it. Whilst talking to one another have the faith that you are souls.
  2. Accumulate so much power of yoga that all your work is carried out easily. Give the message of becoming pure to everyone in the newspapers. Do the service of making others similar to yourself.
Blessing: May you share “Prabhu prasad” (holy food offered to God) of divine virtues through your elevated acts and become an angel who becomes a deity.
At the present time, whether it is souls without knowledge or Brahmin souls, both need the donation of virtues. So, now, intensify this method for yourself and for the Brahmin family. These divine virtues are the most elevated “Prabhu prasad”, and so share this prasad a lot. Just as you give one another toli out of love, in the same way, give the toli of divine virtues and, with this method, the aim of becoming deities from angels will easily be visible in everyone.
Slogan: Always wear the armour of yoga and then Maya, the enemy, will not be able to attack you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 July 2019

To Read Murli 30 July 2019 :- Click Here
31-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – रक्षाबन्धन का पर्व प्रतिज्ञा का पर्व है, जो संगमयुग से ही शुरू होता है, अभी तुम पवित्र बनने और बनाने की प्रतिज्ञा करते होˮ
प्रश्नः- तुम्हारे सब कार्य किस आधार पर सफल हो सकते हैं? नाम बाला कैसे होगा?
उत्तर:- ज्ञान बल के साथ योग का भी बल हो तो सब कार्य आपेही करने के लिए तैयार हो जायें। योग बहुत गुप्त है इससे तुम विश्व का मालिक बनते हो। योग में रहकर समझाओ तो अखबार वाले आपेही तुम्हारा सन्देश छापेंगे। अखबारों से ही नाम बाला होना है, इनसे ही बहुतों को सन्देश मिलेगा।

ओम् शान्ति। आज बच्चों को रक्षाबन्धन पर समझाते हैं क्योंकि अभी नज़दीक है। बच्चे राखी बांधने के लिए जाते हैं। अब जो चीज़ होकर जाती है उनका पर्व मनाते हैं। यह तो बच्चों को मालूम है आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भी यह प्रतिज्ञा पत्र लिखाया था, जिसको बहुत नाम दिये हैं। यह है पवित्रता की निशानी। सबको कहना होता है पवित्र बनने की राखी बांधो। यह भी जानते हो पवित्र दुनिया सतयुग आदि में ही होती है। इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही राखी पर्व शुरू होता है, जो फिर मनाया जायेगा जब भक्ति शुरू होगी, इनको कहा जाता है अनादि पर्व। वह भी कब से शुरू होता है? भक्ति मार्ग से क्योंकि सतयुग में तो यह पर्व आदि होते ही नहीं। यह होते हैं यहाँ। सब त्योहार आदि संगम पर होते हैं, वही फिर भक्ति मार्ग से शुरू होते हैं। सतयुग में कोई त्योहार होता नहीं। तुम कहेंगे दीप माला होगी? नहीं। वह भी यहाँ मनाते हैं वहाँ नहीं होनी चाहिए। जो यहाँ मनाते हैं वह वहाँ नहीं मना सकते। यह सब कलियुग के पर्व हैं। रक्षा-बन्धन मनाते हैं, अब यह कैसे मालूम पड़े कि यह राखी क्यों मनाई जाती है? तुम सबको राखी बांधती हो, कहती हो पावन बनो क्योंकि अब पावन दुनिया स्थापन हो रही है। त्रिमूर्ति के चित्र में भी लिखा हुआ है – ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है पावन दुनिया की इसलिए पवित्र बनाने के लिए राखी बंधन मनाया जाता है। अभी है ज्ञान मार्ग का समय। तुम बच्चों को समझाया गया है भक्ति की कोई भी बात सुनाये तो उनको समझाना चाहिए हम अभी ज्ञान मार्ग में हैं। ज्ञान सागर एक ही भगवान है, जो सारी दुनिया को वाइसलेस बनाते हैं। भारत वाइसलेस था तो सारी दुनिया वाइसलेस थी। भारत को वाइसलेस बनाने से सारी दुनिया वाइसलेस हो जाती है। भारत को वर्ल्ड नहीं कहेंगे। भारत तो एक खण्ड है वर्ल्ड में। बच्चे जानते हैं नई दुनिया में सिर्फ एक भारत खण्ड होता है। भारत खण्ड में जरूर मनुष्य भी रहते होंगे। भारत सचखण्ड था, सृष्टि के आदि में देवता धर्म ही था, उसको ही कहा जाता है निर्विकारी पवित्र धर्म, जिसको 5 हज़ार वर्ष हुए। अभी यह पुरानी दुनिया बाकी थोड़े रोज़ है। कितना दिन वाइसलेस बनने में लगते हैं? टाइम तो लगता है। यहाँ भी पवित्र बनने का पुरूषार्थ करते हैं। सबसे बड़ा उत्सव तो यह है। प्रतिज्ञा करनी चाहिए – बाबा, हम पवित्र तो जरूर बनेंगे। यह उत्सव सबसे बड़ा समझना चाहिए। सब पुकारते भी हैं हे परमपिता परमात्मा, यह कहते हुए भी परमपिता बुद्धि में नहीं आता। तुम जानते हो परमपिता परमात्मा आते हैं जीव आत्माओं को ज्ञान देने। आत्मा-परमात्मा अलग रहे……. यह मेला इस संगमयुग पर ही होता है। कुम्भ का मेला भी इसको कहा जाता है, जो हर 5 हज़ार वर्ष बाद एक ही बार होता है। वह पानी में स्नान करने का मेला तो अनेक बार मनाते आये हो, वह है भक्ति मार्ग। यह है ज्ञान मार्ग। संगम को भी कुम्भ कहा जाता है। तीन नदियां वास्तव में हैं नहीं, गुप्त नदी पानी की कैसे हो सकती है! बाप कहते हैं तुम्हारी यह गीता गुप्त है। तो यह समझाया जाता है तुम योगबल से विश्व की बादशाही लेते हो, इसमें नाच-तमाशा आदि कुछ भी नहीं है। वह भक्ति मार्ग पूरा आधाकल्प चलता है और यह ज्ञान चलता है एक लाइफ़। फिर दो युग है ज्ञान की प्रालब्ध, ज्ञान नहीं चलता है। भक्ति तो द्वापर-कलियुग से चली आई है। ज्ञान सिर्फ एक ही बार मिलता है फिर उसकी प्रालब्ध 21 जन्म चलती है। अभी तुम्हारी आंखे खुली हैं। आगे तुम अज्ञान नींद में थे। अब राखी बंधन पर ब्राह्मण लोग राखी बांधते हैं। तुम भी ब्राह्मण हो। वह हैं कुख वंशवाली, तुम हो मुख वंशावली। भक्ति मार्ग में कितनी अन्धश्रधा है। दुबन में फंसे हुए हैं। दुबन (दलदल) में पांव फँस पड़ते हैं ना। तो भक्ति के दुबन में मनुष्य फँस जाते हैं और एकदम गले तक आ जाते हैं। तब बाप फिर आते हैं बचाने। जब बाकी चोटी रहती है, पकड़ने लिए तो चाहिए ना। बच्चे बहुत मेहनत करते हैं समझाने की। करोड़ों मनुष्य हैं, एक-एक के पास जाना मेहनत लगती है। तुम्हारी बदनामी अखबारों द्वारा हुई है कि यह भगाते हैं, घरबार छुड़ाते हैं, बहन-भाई बनाते हैं। शुरू की बात कितनी फैल गई। अखबारों में धूम मच गई। अब एक-एक को तो समझा नहीं सकते। फिर तुम्हें अखबारें ही काम में आयेंगी। अखबारों द्वारा ही तुम्हारा नाम बाला होगा। अभी विचार करना है – क्या करें जो समझें। रक्षाबन्धन का अर्थ क्या है? जबकि बाप आये हैं पावन बनाने, तब बाप ने बच्चों से पवित्रता की प्रतिज्ञा ली है। पतितों को पावन बनाने वाले ने राखी बांधी है।

कृष्ण का जन्म मनाते हैं फिर जरूर गद्दी पर बैठा होगा। कारोनेशन कभी दिखाते नहीं हैं। सतयुग आदि में लक्ष्मी-नारायण थे। उनका कारोनेशन हुआ होगा। प्रिन्स का जन्म मनाते हैं फिर कारोनेशन कहाँ? दीवाली पर कारोनेशन होती है, बड़ा भभका होता है, वह है सतयुग का। संगम की जो बात है वह वहाँ होती नहीं। घर-घर में रोशनी यहाँ होने की है। वहाँ दीपमाला आदि नहीं मनाते हैं। वहाँ तो आत्माओं की ज्योत जगी हुई है। वहाँ फिर कारोनेशन मनाया जाता है, न कि दीपमाला। जब तक आत्माओं की ज्योत नहीं जगी है तो वापिस जा नहीं सकते। तो अब यह तो सब पतित हैं, उनको पावन बनाने के लिए सोच करना है। बच्चे सोचकर जाते हैं बड़े-बड़े आदमियों के पास। बच्चों की बदनामी हुई अखबारों द्वारा, फिर नाम भी इन द्वारा होगा। थोड़ा पैसा दो तो अच्छा डालेंगे। अब तुम पैसे कहाँ तक देंगे। पैसे देना भी रिश्वत है। बेकायदे हो जाता। आजकल रिश्वत बिगर तो काम ही नहीं होता है। तुम भी रिश्वत दो, वो लोग भी रिश्वत दें तो दोनों एक हो जाएं। तुम्हारी बात है योगबल की। योगबल इतना चाहिए जो तुम कोई से भी काम करा सको। भूँ-भूँ करते रहना है। ज्ञान का बल तो तुम्हारे में भी है। इन चित्रों आदि में ज्ञान है, योग गुप्त है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है, बेहद का वर्सा लेने के लिए। वह है ही गुप्त, जिससे तुम विश्व के मालिक बनते हो, कहाँ भी बैठ तुम याद कर सकते हो। सिर्फ यहाँ बैठकर योग नहीं साधना है। ज्ञान और याद दोनों सहज हैं। सिर्फ 7 दिन का कोर्स लिया, बस। जास्ती दरकार नहीं। फिर तुम जाकर औरों को आपसमान बनाओ। बाप ज्ञान का, शान्ति का सागर है। यह दो बातें हैं मुख्य। इनसे तुम शान्ति का वर्सा ले रहे हो। याद भी बड़ी सूक्ष्म है।

तुम बच्चे भल बाहर में चक्र लगाओ, बाप को याद करो। पवित्र बनना है, दैवीगुण भी धारण करना है। कोई भी अवगुण नहीं होना चाहिए। काम का भी भारी अवगुण है। बाप कहते हैं अब तुम पतित मत बनो। भल स्त्री सामने हो, तुम अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। देखते हुए न देखो। हम तो अपने बाप को याद करते हैं, वह ज्ञान का सागर है। तुमको आपसमान बनाते हैं तो तुम भी ज्ञान सागर बनते हो। इसमें मूँझना नहीं चाहिए। वह है परम आत्मा। परमधाम में रहते हैं इसलिए परम कहा जाता है। वह तो तुम भी रहते हो। अब नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तुम ज्ञान ले रहे हो। पास विद् ऑनर जो होते हैं उनको कहेंगे पूरा ज्ञान सागर बने हैं। बाप भी ज्ञान सागर, तुम भी ज्ञान के सागर। आत्मा कोई छोटी-बड़ी नहीं होती है। परमपिता भी कोई बड़ा नहीं होता। यह जो कहते हैं हज़ारों सूर्य से तेजोमय – यह सब हैं गपोड़े। बुद्धि में जिस रूप से याद करते हैं वह साक्षात्कार हो जाता है। इसमें समझ चाहिए। आत्मा का साक्षात्कार वा परमात्मा का साक्षात्कार, बात एक हो जायेगी। बाप ने रियलाइज़ कराया है – मैं ही पतित-पावन, ज्ञान का सागर हूँ। समय पर आकर सबकी सद्गति करता हूँ। सबसे जास्ती भक्ति तुमने की है फिर बाप तुमको ही पढ़ाते हैं। रक्षाबंधन के बाद कृष्ण जन्माष्टमी होती है। फिर है दशहरा। वास्तव में दशहरे के पहले तो कृष्ण आ न सके। दशहरा पहले होना चाहिए फिर कृष्ण आना चाहिए। यह हिसाब भी तुम निकालेंगे। पहले तो तुम कुछ भी नहीं समझते थे। अभी बाप कितना समझदार बनाते हैं। टीचर समझदार बनाते हैं ना। अभी तुम जानते हो कि भगवान बिन्दू स्वरूप है। झाड़ कितना बड़ा है। आत्मायें ऊपर में बिन्दी रूप में रहती हैं। मीठे-मीठे बच्चों को समझाया जाता है, वास्तव में एक सेकण्ड में समझदार बनना चाहिए। परन्तु पत्थरबुद्धि ऐसे हैं जो समझते ही नहीं। नहीं तो है एक सेकण्ड की बात। हद का बाप तो जन्म बाई जन्म नया मिलता है। यह बेहद का बाप तो एक ही बार आकर 21 जन्मों का वर्सा देते हैं। अभी तुम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हो। आयु भी बड़ी हो जाती है। ऐसे भी नहीं 21 जन्म कोई एक बाप रहेगा। नहीं, तुम्हारी आयु बड़ी हो जाती है। तुम कभी दु:ख नहीं देखते हो। पिछाड़ी में तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान जाकर रहेगा। बाप को याद करना और वर्सा लेना है। बस, बच्चा पैदा हुआ और वारिस बना। बाप को जाना तो बस बाप और वर्से को याद करो, पवित्र बनो। दैवीगुण धारण करो। बाप और वर्सा कितना सहज है। एम ऑबजेक्ट भी सामने है।

अब बच्चों को विचार करना है – हम अखबार द्वारा कैसे समझायें। त्रिमूर्ति भी देना पड़े क्योंकि समझाया जाता है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। ब्राह्मणों को पावन बनाने बाप आया है इसलिए राखी बंधवाते हैं। पतित पावन, भारत को पावन बना रहे हैं, हर एक को पावन बनना है क्योंकि अब पावन दुनिया स्थापन होती है। अभी तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए हैं। जिसने बहुत जन्म लिये होंगे वह अच्छी रीति समझते रहेंगे। पिछाड़ी में आने वाले को इतनी खुशी नहीं होगी क्योंकि भक्ति कम की है। भक्ति का फल देने बाप आता है। भक्ति किसने जास्ती की है यह भी अब तुम जानते हो। पहले नम्बर में तुम ही आये हो, तुमने ही अव्यभिचारी भक्ति की है। तुम भी अपने से पूछो हमने जास्ती भक्ति की है या इसने? सबसे तीखी जो सर्विस करते हैं जरूर उसने जास्ती भक्ति भी की है। बाबा नाम तो लिखते हैं – कुमारका है, जनक है, मनोहर है, गुल्ज़ार है। नम्बरवार तो होते हैं। यहाँ नम्बरवार बिठा नहीं सकते। तो विचार करना है – रक्षा बन्धन का अखबार में कैसे डालें। वह तो ठीक है, मिनिस्टर आदि के पास जाते हैं, राखी बांधते हैं परन्तु पवित्र तो बनते नहीं हैं। तुम कहते हो पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया स्थापन हो जाए। 63 जन्म विकारी बनें, अब बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो। खुदा को याद करो तो तुम्हारे सिर पर जो पाप हैं वह उतर जाएं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पास विद् ऑनर होने के लिए बाप समान ज्ञान सागर बनना है। कोई भी अवगुण अन्दर है तो उसकी जांच कर निकाल देना है। शरीर को देखते हुए न देख, आत्मा निश्चय कर आत्मा से बात करनी है।

2) योगबल इतना जमा करना है जो अपना हर काम सहज हो जाए। अखबारों द्वारा हरेक को पावन बनने का सन्देश देना है। आप समान बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- श्रेष्ठ कर्म द्वारा दिव्य गुण रूपी प्रभू प्रसाद बांटने वाले फरिश्ता सो देवता भव
वर्तमान समय चाहे अज्ञानी आत्मायें हैं, चाहे ब्राह्मण आत्मायें हैं, दोनों को आवश्यकता गुण-दान की है। तो अब इस विधि को स्वयं में वा ब्राह्मण परिवार में तीव्र बनाओ। ये दिव्य गुण सबसे श्रेष्ठ प्रभू प्रसाद है, इस प्रसाद को खूब बांटो, जैसे स्नेह की निशानी एक दो को टोली खिलाते हो ऐसे दिव्य गुणों की टोली खिलाओ तो इस विधि से फरिश्ता सो देवता बनने का लक्ष्य सहज सबमें प्रत्यक्ष दिखाई देगा।
स्लोगन:- योग रूपी कवच को पहनकर रखो तो माया रूपी दुश्मन वार नहीं कर सकता।

TODAY MURLI 31 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 July 2018 :- Click Here

31/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, take shrimat from Shiv Baba at every step. Give all your news to the Father through Brahma.
Question: Why is it that, while being children of the one Father, some children have intellects filled with love whereas others have intellects with no love?
Answer: The children who maintain full connection with BapDada, those whose intellects have no doubt about any aspect and who relate their true charts to Shiv Baba through Brahma are the ones with loving intellects. However, if you sulk with Brahma or your Brahmin teacher, due to any reason, and do not write to Baba, because you think that you have no connection with Brahma and that you only have to remember Shiv Baba, it means that Maya has caught hold of your intellect. Such ones are those who have intellects with no love.
Song: My heart says thanks to the One who has given me support!

Om shanti. The Father also gives thanks to the children. The Father thanks the children who are His helpers and also praises them. You children have now come to know that the unlimited Father has come. The Father enters the impure world. They sing: O Purifier, come! When the Purifier does come, He would surely come to establish the pure world of heaven, in which very few human beings live. Praise is sung of the pure world. There is no one who calls out in the pure world. It is only in this impure world that people call out. Devotees consider themselves to be impure. Truly, it is only in Bharat that there was the pure kingdom of deities. There was purity in Bharat. They were very wealthy and happy. Now, they are unhappy. Shiv Baba sits in the body of Brahma and explains. Therefore, you also have to remember the body of Brahma. If children go far away, for instance, if you go back to your home town, you should write a letter to your unlimited Father, who is also your Bridegroom. You have to write to Shiv Baba through Brahma. Shiv Baba cannot hear without Brahma. You have to remember Shiv Baba through Brahma. There are some children who think that they do remember Shiv Baba, that they have no connection with the sakar form. Nevertheless, since Shiv Baba is here, you definitely have to write a letter to Baba through this one. You have to give your news to Shiv Baba throughBrahma. It is sung that there are those who have loving intellects at the time of destruction and there are those who have no love in their intellects at the time of destruction. Love for whom? For Shiv Baba through Brahma. There are also some who have such foolish intellects that they say they remember Shiv Baba anyway. Shiv Baba says that by remembering Him your boat will go across; but where is He? He is definitely here in this one’s body. He is teaching through this one. How would you write a letter to the incorporeal One? Brides write letters to their bridegrooms and bridegrooms write letters to their brides. From the beginning of the golden age to the end of the iron age, human beings have been writingletters to human beings. Souls now meet the Supreme Soul and so they write letters to Him. They talk to the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. Therefore, they have to stay in connection through Brahma. Only when you write a letter to Shiv Baba through Brahma would Shiv Baba understand that you truly are remembering Him. Maya catches hold of the intellects of some so that they come into body consciousness and they don’t even write a letter; they forget. Now, at the time of destruction, none of their intellects has love whereas the Pandavas intellects have love. Those people think that the God of the Gita is Shri Krishna. Achcha, even if it were Shri Krishna, you would still have to write to him. You also have to write to Shiv Baba. You definitely have to take shrimat. Some say that they are remembering Shiv Baba, but they cannot receive advice without the corporeal Brahma. Very good and first-class children write that their yoga is with Shiv Baba and that they will continue to help Him. However, you cannot claim your inheritance from the Grandfather except through Father Brahma. You have to take advice at every step. Such news comes to Baba. They sulk with Brahma or their Brahmin teacher and Maya completely turns their faces away. You should understand that you have to take shrimat from Shiv Baba at every step and ask Baba what you should do under those circumstances. Baba always asks you children whether you are happy and content. One is physical illness and the other is spiritual illness. Some never write to tell Baba that they are happy, that Maya is not attacking them. Achcha, although He knows everything, you still have to take directions from Him: Am I right or am I wrong in this aspect? When you don’t have accurate yoga, you do wrong. The children who have loving intellects at the time of destruction have to come to the Father. The Father is sitting here. There are many whose intellects have no love at the time of destruction, and so they become confused and start performing wrong actions. You cannot carry on doing anything without taking shrimat. They cannot reach their destination on their own without a guide. How can anyone go there if they don’t know the way? A guide’s hand is definitely needed. One also needs support when learning to swim. Baba continues to caution you children: Even if you have doubt about any aspect, at least stay in connectionwith this one. After all, it is through this one that you receive directions from Shiv Baba. Baba has explained: This chariot, that is, this throne, has especially been fixed for the Immortal Image. Baba says: I take the support of this one’s chariot, that is, his throne. Otherwise, I could enter anyone at any time and get the service donethatI want done. Baba has explained: If someone worships Hanuman, then I grant him a vision of that. I give him the reward of his devotion. If I grant him a vision of Hanuman, his devotion would be totally for that one; he would hold on to only him. Baba has selected a very experienced chariot. He was a jewel merchant. This is the business of the imperishable jewels of knowledge. Only when I enter this chariot every cycle can I carry out this task. He creates Brahmins through Brahma, just as Christians are created through Christ. The names are very similar. Therefore, I have to enter the chariot of Brahma. I sit here and tell you the story of this one’s births. The first birth is that of Shri Krishna. I come at the end of the last of his many births. I tell you all of these things accurately. If anyone asks, tell them: Brahma is definitely needed first, because only then can Brahmins be created through him. The physical Father of Humanity is needed. The Father of Humanity cannot exist in the subtle region. Brahma, the Father of Humanity, is needed here. I only come in Bharat when it is the time of extreme darkness. The devotion of half the cycle is now ending. They sing: O Purifier, come! If annihilation were to take place, the world couldn’t become pure. The word ‘annihilation’ is wrong. I come when people have become very unhappy and impure. The pure world is the golden and silver ages and the impure world is the copper and iron ages. Billions of human beings now exist here. That many will not be needed in the golden age. They have shown that missiles emerged from someone’s stomach, through which they destroyed their own clan. People have sat and made up such stories. Nothing emerges from anyone’s stomach. This is the work of the intellect. Just see how much happiness people now have through science ! Previously, there was no gas or electricity etc. Baba is experienced. Baba says: I enter an old body. The body of Krishna is not old. Krishna is not impure. People call out: O Purifier, come! Therefore, He surely has to enter the impure world and an impure body. There are no pure bodies in the impure world. Here, souls are tamopradhan and their bodies are also tamopradhan. It is said: The golden age and the silver age. First, there is the golden age. There, the souls and the bodies are both pure. Later, souls become impure. I come and make them viceless. Maya is such that she pulls the ears of even good, first-class children. They then become upset with a Brahmin teacher or with Brahma and develop doubt and leave. Maya turns their faces away. From having loving intellects, they become those with no love in their intellects. Then they stop studying with Shiv Baba. Some study, but they are unable to imbibe knowledge completely. Therefore, Baba says: It doesn’t matter. Simply make two things firm. You have to remember Baba. Your intellects should now be here as well as up there (in the home). There is the example of the genie. He said: Give me work to do, otherwise, I will eat you. Baba says: I give you the work of remembering Me. If you do not remember Me, Maya will eat you alive. You have to make time for remembrance. First of all, make a little time and your practice willthen increase. Baba says: Remain silent and simply continue to remember Me. You know Baba is up there as well as here. We have to return to Baba. You now understand that Baba has come in this one’s body. If you do not have remembrance, Maya will eat you alive. There are many stories that have been made up. Previously, you were senseless. Baba now explains: When I go back, you then become the masters of the world. I talk to you souls. It is the soul in the body that passes exams. The Father now says: Become soul conscious! While living at home with your family, consider yourself to be a bodiless soul. The more you remember the Father, the more you will benefit. This is called yoga. Actually, it is remembrance – the love of you souls for the Father. You remember Him. A lover and beloved love each other; they have love for the body. Both the lover and the beloved are bodily beings. It is as though the beloved is standing in front of the lover. The beloved then sees the lover. You are now lovers of the Supreme Father, the Supreme Soul. There is only the one Beloved and all the souls are lovers. That incorporeal Father sits here and gives you directions through this corporeal one. You can neither see a soul nor the Supreme Soul. Yes, sometimes, some are able to have a vision of a soul. Human beings are not able to understand anything. Baba grants them a vision of light because they have faith in that. It was said: The light is so bright that I cannot tolerate it any more. Stop it! The eyes become red. Baba explains: I am a s tar. Just as a firefly sparkles, in the same way, the soul comes out of the body like a star. (Example of Vivekananda). Whomever people have devotion for, I grant them a vision accordingly. Baba sits and explains: This is your devotion that has continued. So I grant you a vision accordingly. As is a soul, so the Supreme Soul, but He is the Ocean of Knowledge. A soul is a living being. All the sanskars are within the soul. The Father also has the sanskars of carrying out the tasks of creation, destruction and sustenance. He is Trimurti. No one knows Shiv Baba and that is why they have forgotten to put Shiva, the Creator, above the Trimurti. In fact, Trimurti Shiva is the God of the Gita, but people say, “Trimurti Brahma”. However, there also has to be the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar. The names of Brahma and Shiv Baba are separate. Otherwise, whom do you call the Creator? No one is able to understand this. Baba comes and explains to you children. You have loving intellects. Those whose intellects have no love become Kauravas. Although they come here, their status becomes much lower. Whatever they have accumulated is then finished and they receive a low status among the subjects. Just look what you can become through this study at this present time! Baba says: Children, if you want to become deities, you have to renounce bad things like poison. Only the one Father is the true Satguru who can take you into liberation and liberation-in-life. Everyone has to go back at the same time. It is not that someone can leave and go away in between. They all have to play their full part s. Then, at the end, they all definitely have to return home like a swarm of insects. This is also mentioned in the Gita. However, because it says that they are the versions of God Krishna, the importance of the Gita has been lost. How would you go to the land of liberation if the Father didn’t come? Later, you each come at your own time to play your parts. This is detailed explanation. However, in a nutshell, He says: Remember Me! That’s all! God is one and all the rest are His children. You have now become trikaldarshi. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to remain constantly happy and content, take advice from the Father at every step. Remember Shiv Baba through Brahma and also continue to give Him your news.
  2. Never develop doubt about any aspect. Don’t sulk with your Brahmin teacher or Father Brahma and thereby stop studying. Keep your intellect constantly full of love.
Blessing: May you be a master satguru and make your words invaluable by doubly underlining them.
The words of you children have to be such that those who listen to you become chatrak birds (thirsty to listen). They want you say something so that they can listen to you; these are said to be invaluable elevated versions. When you keep speaking whatever you want, whenever you want – such words would not be said to be elevated versions. You are master satgurus, the children of the Satguru and so let each and every word of yours be an elevated version. At any time, wherever you may be, only speak words that are necessary, yuktiyukt and beneficial for the self and other souls. Doubly underline the words you speak.
Slogan: Become a jewel of pure and positive thoughts for all and continue to enlighten the world with your rays.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 July 2018

To Read Murli 30 July 2018 :- Click Here
31-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कदम-कदम पर शिवबाबा की श्रीमत लेनी है, अपना सब समाचार ब्रह्मा द्वारा बाप को देना है”
प्रश्नः- एक बाप के बच्चे होते भी कोई प्रीत बुद्धि हैं, कोई विपरीत बुद्धि हैं – कैसे?
उत्तर:- जो बच्चे अपना पूरा कनेक्शन बापदादा से रखते हैं, किसी बात में संशयबुद्धि नहीं बनते हैं, सच्चा-सच्चा पोतामेल ब्रह्मा के थ्रू शिवबाबा को सुनाते हैं वह हैं प्रीत बुद्धि बच्चे। अगर किसी भी बात से ब्रह्मा या ब्राह्मणी से रूठ जाते, चिट्ठी नहीं देते और सोचते – हमारा ब्रह्मा से कोई कनेक्शन नहीं, शिवबाबा को ही याद करना है तो उनकी बुद्धि को माया पकड़ लेती है। वह हैं जैसे विपरीत बुद्धि।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले….. 

ओम् शान्ति। बाप भी बच्चों का शुािढया मानते हैं। जो मददगार बच्चे होते हैं तो बाप भी शुािढया मानते हैं और बच्चों की महिमा करते हैं। अब तो बच्चे जान गये हैं कि बेहद का बाप आया है। बाप आते ही हैं पतित दुनिया में। गाते भी हैं – हे पतित-पावन आओ। तो पतित-पावन आयेगा, जरूर पावन दुनिया स्वर्ग स्थापन करेगा, जिसमें मनुष्य थोड़े रहते हैं। पावन दुनिया की महिमा गाई जाती है। पावन दुनिया में पुकारने वाला कोई होता नहीं है। पुकारते इस पतित दुनिया में हैं। भक्त ही अपने को पतित समझते हैं। बरोबर एक ही भारत है जिसमें पावन राजाई देवताओं की थी। भारत में पवित्रता थी। बड़े साहूकार थे, बहुत सुखी थे, अब तो दु:खी हैं। शिवबाबा ही ब्रह्मा तन में बैठ समझाते हैं। तो ब्रह्मा तन को भी याद करना पड़े ना। अगर बच्चे दूर जाते हैं, समझो तुम अपने नगरों में जायेंगे तो तुम्हारा जो बेहद का बाप है, साजन भी है, उनको चिट्ठी तो लिखनी चाहिए ना। शिवबाबा को लिखना पड़े थ्रू ब्रह्मा। ब्रह्मा के सिवाए तो शिवबाबा सुन न सकें। शिवबाबा थ्रू ब्रह्मा याद करना पड़े ना। कई ऐसे भी बच्चे हैं जो समझते हैं कि हम तो शिवबाबा को याद करते रहते हैं। साकार से कोई कनेक्शन नहीं परन्तु जबकि शिवबाबा यहाँ हैं तो जरूर बाबा को पत्र लिखना पड़े। समाचार देना पड़े – शिवबाबा थ्रू ब्रह्मा। गाया जाता है विनाश काले विपरीत बुद्धि और विनाश काले प्रीत बुद्धि – किसके साथ? शिवबाबा के साथ ब्रह्मा द्वारा। ऐसे भी मंद बुद्धि हैं जो कहते हैं – हम तो शिवबाबा को ही याद करते हैं। शिवबाबा कहते हैं ना मुझे याद करने से तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा। परन्तु वह है कहाँ? जरूर यहाँ इस तन में हैं, इस द्वारा पढ़ाते हैं। निराकार को तुम चिट्ठी कैसे लिखेंगे? साजन सजनियों को, सजनियाँ साजन को चिट्ठी लिखती हैं ना। सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक तो मनुष्य, मनुष्य को पत्र आदि लिखते आये। अब आत्मायें परमात्मा के साथ मिलती हैं, उनको पत्र लिखती हैं। निराकार परमपिता परमात्मा के साथ बात करती हैं। तो थ्रू ब्रहमा उनसे कनेक्शन रखना पड़े। ब्रह्मा द्वारा चिट्ठी लिखें तब शिवबाबा समझे बरोबर याद करते हैं। किसकी बुद्धि को माया एकदम पकड़ लेती है या देह-अभिमान आ जाता है तो फिर पत्र भी नहीं लिखते, भूल जाते हैं। अभी है विनाश काले विपरीत बुद्धि। पाण्डवों की है प्रीत बुद्धि। वो लोग फिर समझते हैं कि गीता का भगवान् श्रीकृष्ण था। अच्छा, समझो श्रीकृष्ण है तो भी उनको चिट्ठी लिखनी पड़े। शिवबाबा को भी लिखनी है। श्रीमत जरूर लेनी पड़े। कहते हैं कि शिवबाबा को याद करते हैं। परन्तु साकार ब्रह्मा के सिवाए तो राय मिल न सके। अच्छे-अच्छे फर्स्टक्लास बच्चे लिखते हैं कि हमारा योग शिवबाबा से है, हम उनको मदद करते रहेंगे। फिर भी थ्रू ब्रह्मा, बाप बिगर दादे का वर्सा तो ले नहीं सकते हो। कदम-कदम पर राय लेनी पड़े। ऐसे-ऐसे बाबा के पास समाचार आते हैं। रूठ जाते हैं ब्रह्मा से वा ब्राह्मणी से। फिर माया एकदम मुँह फेर देती है। समझना चाहिए कि कदम-कदम पर हमको शिवबाबा से श्रीमत लेनी है – बाबा इस हालत में क्या करना चाहिए।

बाबा हमेशा पूछते रहते हैं कि – बच्चे, खुशराज़ी हो? एक होती है शारीरिक बीमारी, दूसरी फिर है रूहानी बीमारी। कभी पत्र नहीं लिखते कि बाबा हम मौज में हैं, हमारे ऊपर माया वार नहीं करती है। अच्छा, वह सब कुछ जानते हैं परन्तु फिर भी उनसे मत तो लेनी पड़े ना – इस बात में भी राइट हूँ या रांग हूँ? योग पूरा नहीं है तो उल्टे हो पड़े हैं। विनाश काले प्रीत बुद्धि बच्चों को तो बाप के पास आना है। बाप यहाँ बैठे हैं ना। बहुत हैं जिनकी विनाश काले विपरीत बुद्धि हो जाती है तो उल्टे-सुल्टे काम करने लग पड़ते हैं, मूँझ पड़ते हैं। श्रीमत लेने बिगर तो काम चल न सके। बिगर गाइड अकेला पहुँच न सके। कोई रास्ता जानते ही नहीं तो जा कैसे सकते? गाइड का जरूर हाथ चाहिए। तैरने के लिए जरूर आधार चाहिए। बच्चों को बाबा सावधानी देते रहते हैं कि कोई भी बात में संशय उठ पड़े तो भी कम से कम इनसे तो कनेक्शन रखना पड़े। शिवबाबा की मत भी तो इनसे मिलती है ना। बाबा ने समझाया – अकालमूर्त का यह रथ अथवा तख्त ख़ास मुकरर है। बाबा कहते हैं – मैं इनके रथ अथवा तख्त का आधार लेता हूँ। बाकी मैं किसी में भी कभी भी प्रवेश कर अपनी सर्विस कर लेता हूँ। बाबा ने समझाया है कि कोई हनूमान की भक्ति करते हैं तो उनको वह साक्षात्कार कराता हूँ। उसकी भावना का भाड़ा देता हूँ। अगर हनूमान का साक्षात्कार कराया तो वो ही भाव बैठ जायेगा। उनके पिछाड़ी लटक पड़ेंगे। बाबा ने यह रथ तो बहुत अनुभवी लिया है। था भी यह जवाहरात का व्यापारी। यह भी अविनाशी ज्ञान रत्नों का व्यापार है। कल्प-कल्प इस रथ में आऊं तब तो कार्य करूँ। ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचेंगे ना। जैसे क्राइस्ट द्वारा क्रिश्चियन रचे जाते हैं। राशि मिलती है ना। तो मुझे आना पड़े ब्रह्मा के रथ में। इनके ही जन्मों की कहानी बैठ समझाता हूँ। पहला जन्म तो है श्रीकृष्ण का। उनके ही बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में आता हूँ। यह एक्यूरेट बताता हूँ। कोई पूछे तो बोलो – पहले तो ब्रह्मा जरूर चाहिए तब तो उन द्वारा ब्राह्मण रचें। व्यक्त प्रजापिता ब्रह्मा चाहिए। सूक्ष्मवतन में तो प्रजापिता होता नहीं है। प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ चाहिए और मैं आता भी भारत में हूँ। जबकि घोर अन्धियारा होता है। आधाकल्प भक्ति का पूरा होता है।

गाते भी हैं – हे पतित-पावन आओ। अगर प्रलय हो फिर तो दुनिया पावन हो न सके। प्रलय अक्षर रांग हैं। जब बहुत दु:खी पतित होते हैं तब मैं आता हूँ। पावन दुनिया है सतयुग-त्रेता, द्वापर-कलियुग है पतित दुनिया। यहाँ कितने करोड़ों मनुष्य हैं, सतयुग में तो इतने नहीं चाहिए। दिखाते हैं पेट से मूसल निकले, जिससे अपने ही कुल का नाश किया… यह सब कहानियाँ बैठ बनाई हैं। पेट से कोई चीज़ नहीं निकली है, यह तो बुद्धि का काम है। साइंस से भी अभी देखो कितना सुख हो गया है। आगे यह गैस बिजली आदि कुछ नहीं था। बाबा तो अनुभवी है। कहते भी हैं कि मैं वृद्ध तन में आता हूँ, कृष्ण का तो वृद्ध तन नहीं है। कृष्ण पतित थोड़ेही है। कहते हैं कि पतित-पावन आओ तो पतित दुनिया, पतित शरीर में आना पड़े। पतित दुनिया में पावन शरीर होता ही नहीं। यहाँ आत्मायें भी तमोप्रधान तो शरीर भी तमोप्रधान हैं। गोल्डन एज, सिल्वर एज कहा जाता है ना। पहले है गोल्डन एज। वहाँ आत्मा और शरीर दोनों पावन हैं। फिर आत्मा पतित बन जाती है। उन्हों को आकर वाइसलेस (पावन) बनाता हूँ। माया ऐसी है जो अच्छे-अच्छे फर्स्टक्लास का भी कान पकड़ लेती है। ब्राह्मणी से या ब्रह्मा से नाराज़ हुआ, संशय पड़ा, यह गया। माया मुँह फेर देती है। प्रीत बुद्धि से विपरीत बुद्धि बन पड़ते हैं। फिर शिवबाबा से पढ़ना छोड़ देते हैं। कोई पढ़ते हैं परन्तु पूरी धारणा नहीं होती तो बाबा कहते हैं हर्जा नहीं। सिर्फ दो बातें मजबूत कर लो। बाबा को याद करना है। अभी तुम्हारी बुद्धि यहाँ और वहाँ (घर में) रहनी चाहिए। एक जिन्न का मिसाल है ना। उसने कहा कि काम दो नहीं तो खा जाऊंगा। बाबा भी कहते हैं कि मैं यह याद करने का काम देता हूँ। अगर याद नहीं करेंगे तो माया कच्चा खा जायेगी। याद के लिए कुछ समय तो निकालना चाहिए ना। पहले थोड़ा समय फिर बहुत प्रैक्टिस होती जायेगी। बाबा कहते हैं कि चुप रहो, सिर्फ याद करते रहो। तुम जानते हो कि बाबा ऊपर में भी है, यहाँ भी है। हमको बाबा के पास जाना है। अभी तुमको समझ है बाबा इस शरीर में आया हुआ है। याद नहीं करेंगे तो माया कच्चा खा जायेगी। कहानियां तो बहुत बना दी हैं।

आगे बेसमझ थे अभी बाबा समझाते हैं कि मैं चला जाता हूँ फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो। तुम्हारी आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा ही इम्तहान पास करती है – शरीर के द्वारा। अभी बाप कहते हैं कि देही-अभिमानी बनो। गृहस्थ व्यवहार में रहते अपने को अशरीरी आत्मा समझो। जितना बाप को याद करेंगे उतना फ़ायदा है। इसी का नाम योग रख दिया है। नहीं तो यह है याद, आत्माओं की बाप से प्रीत। याद करते हैं। आशिक-माशूक का भी एक-दो के शरीर से प्यार होता है। आशिक-माशूक दोनों ही देहधारी होते हैं। आशिक के सामने जैसे कि माशूक खड़ा है। माशूक को फिर आशिक दिखाई पड़ेगा। अभी तुम आशिक हो परमपिता परमात्मा के। एक है माशूक, बाकी सब आत्मायें हैं आशिक। वह निराकार बाप तुमको इस साकार द्वारा बैठ मत देते हैं। तुम तो न आत्मा को, न परमात्मा को देख सकते हो। कभी-कभी कोई को आत्मा का साक्षात्कार होता है। मनुष्य तो कुछ समझ नहीं सकते। बाबा लाइट का साक्षात्कार करा देते हैं क्योंकि भावना बैठी हुई है। कहते हैं ना बहुत लाइट तेजोमय है, बस करो, हम सहन नहीं कर सकते हैं। लाल-लाल आंखे हो जाती हैं। बाबा समझाते हैं कि मैं तो स्टार हूँ। जैसे जुगनू होता है ना फायरफ्लाई। जैसे उनकी लाइट चमकती है वैसे स्टार मुआफिक आत्मा निकल जाती है। (विवेकानंद का मिसाल) तो जैसे जिसकी भावना बैठी हुई होगी उसे वैसा ही साक्षात्कार हो जायेगा। बाबा बैठ समझाते हैं कि यह तुम्हारी भावना चली आती है। तो मैं उसी रूप में साक्षात्कार कराता हूँ। जैसी आत्मा है वैसा परमात्मा। परन्तु वह ज्ञान का सागर है। आत्मा भी चैतन्य है। सब संस्कार आत्मा में हैं। बाप में भी संस्कार हैं – स्थापना, विनाश, पालना के कर्तव्य करने के। त्रिमूर्ति हैं ना। शिवबाबा को भी कोई जानते नहीं। तो त्रिमूर्ति के ऊपर शिव रचता को भूल गये हैं। वास्तव में गीता का भगवान् है त्रिमूर्ति शिव परन्तु वह फिर कह देते हैं त्रिमूर्ति ब्रह्मा। अरे, ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का भी कोई रचता होगा ना? ब्रह्मा का नाम अलग, शिवबाबा का नाम अलग है। नहीं तो किसको कहते हो कि वह रचता है। किसकी भी समझ में नहीं आता है।

बाप आकर बच्चों को समझाते हैं। तुम्हारी है प्रीत बुद्धि। कोई की विपरीत बुद्धि हो जाती है तो जैसे कौरव बन जाते हैं। भल यहाँ आते हैं परन्तु पद कम हो जाता है। जो कुछ जमा हुआ वो ना हो जाता है। फिर प्रजा में जाकर कम पद पायेंगे। इस समय देखो – पढ़ाई से क्या-क्या बन सकते हैं। बाबा कहते हैं कि – बच्चे, देवता बनना है तो इस खराब चीज को (विष को) छोड़ना है। एक बाप ही सच्चा सतगुरू है जो मुक्ति-जीवनमुक्ति में ले जाने वाला है। जाना तो सबको एक ही समय है। ऐसे नहीं कोई बीच से चला जायेगा। हर एक को अपना-अपना पूरा पार्ट बजाना है। जरूर फिर अन्त में मच्छरों सदृश्य वापिस जाना है। गीता में भी लिखा हुआ है, परन्तु कृष्ण भगवानुवाच लिखने से गीता का महत्व ही चट हो गया है। बाप न आये तो मुक्तिधाम कैसे जायें? फिर अपने समय पर आकर अपना पार्ट बजाते हैं। यह हुआ विस्तार से समझाना। नटशेल में कहते हैं कि मुझे याद करो। बस, गॉड इज वन। बाकी सब हैं बच्चे। अभी तुम त्रिकालदर्शी बने हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा खुश राज़ी रहने के लिए कदम-कदम पर बाप से राय लेनी है। शिवबाबा को ब्रह्मा के थ्रू याद करना है। अपना समाचार देते रहना है।

2) कभी भी किसी बात में संशय नहीं उठाना है। ब्राह्मणी से या ब्रह्मा बाप से रूठकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। सदा प्रीत बुद्धि रहना है।

वरदान:- बोल पर डबल अन्डरलाइन कर हर बोल को अनमोल बनाने वाले मा. सतगुरू भव
आप बच्चों के बोल ऐसे हों जो सुनने वाले चात्रक हों कि यह कुछ बोलें और हम सुनें – इसको कहा जाता है अनमोल महावाक्य। महावाक्य ज्यादा नहीं होते। जब चाहे तब बोलता रहे – इसको महावाक्य नहीं कहेंगे। आप सतगुरू के बच्चे मास्टर सतगुरू हो इसलिए आपका एक-एक बोल महावाक्य हो। जिस समय जिस स्थान पर जो बोल आवश्यक है, युक्तियुक्त है, स्वयं और दूसरी आत्माओं के लाभदायक है, वही बोल बोलो। बोल पर डबल अन्डरलाइन करो।
स्लोगन:- शुभचिंतक मणी बन, अपनी किरणों से विश्व को रोशन करते चलो।
Font Resize