daily murli 31 january

TODAY MURLI 31 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

31/01/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/10/87

Become detached in four things.

Today, BapDada is looking at all His elevated children who are seated on a lotus-seat. A lotus-seat is a symbol of the elevated stage of Brahmin souls. A seat is a means of remaining stable. Brahmin souls remain stable in a lotus-like stage and this is why they are called those seated on a lotus-seat. Just as Brahmins become deities, those seated on this seat are then able to sit on a throne. Whether you remain seated on a lotus seat for a long time or a short time, you will accordingly become one seated on the throne of a kingdom for a long time or a short time. A lotus-seat is a symbol of the extremely detached and loving stage like that of Father Brahma. You Brahmin children follow the father and this is why you have a lotus seat, the same as the father. The sign of being extremely detached is that you will be extremely loved by the Father and the whole family. To be detached means to be detached from everything.

1. To be detached from the awareness of one’s body. Worldly souls naturally and constantly have the awareness of their bodies while walking and moving along and performing every action. They don’t have to make effort to think that they are bodies; they have that awareness easily without even consciously thinking about it. In the same way, Brahmin souls seated on a lotus seat should also easily remain detached from any awareness of their bodies, just as souls without knowledge remain detached from soul consciousness. You are soul conscious; let no awareness of your body pull you towards itself. You saw Father Brahma: while walking and moving along, he naturally had the angelic and deity forms in his awareness. Constantly to have such a soul conscious stage naturally is known as being detached from the awareness of one’s body. Only being detached from any awareness of your body will make you loved by God.

2. To remain detached from all the relationships of your body with your drishti, attitude and actions. While seeing bodily relationships, let the soul conscious relationships be naturally in your awareness. This is why “Bhaiya duj” (the occasion of a brother being invited to his sister’s place) comes after Deepawali. When you become a sparkling star or a sparkling, eternal lamp, you have the relationship of brotherhood. As souls, you have a brotherly relationship and as corporeal Brahmins of the clan of Brahma, you naturally have the pure, elevated relationship of brother and sister in your awareness. So, detachment means to be detached from your body and bodily relationships.

3. To be detached from perishable possessions of your body. If a physical possession is causing mischief for any of your physical senses, that is, if there is any attraction to it, then there isn’t detachment. It is easy to be detached from relationships, but attraction to physical things from which you should be detached still remains in a royal way. You were told that a clear form of attraction is a desire, but the subtle and deep form of a desire is to like something. You say, “I don’t desire it, but I like it.” This subtle form of liking can also take on the form of a desire. So, check this very well: is this physical thing, that is, this means of temporary happiness, pulling me? When a facility is not available at the time you want it, is your spiritual endeavour easy? That is, your stage of easy yoga does not fluctuate, does it? You are not influenced by any facility or compelled by your habits, are you? All of those physical facilities are facilities of matter. You are conquerors of matter, that is, you are Brahmins seated on a lotus seat, beyond the support of matter. Together with becoming conquerors of Maya, you also become conquerors of matter. As soon as you become conquerors of Maya, Maya repeatedly tests you in various ways. She sees that her companions are becoming conquerors of Maya, so she gives many test papers. The test paper of matter brings all of you into upheaval through the facilities. Water shortage, for instance. That was not a big paper. However, just as facilities are made with water and facilities are made with fire, in the same way, facilities made with every element of matter are the basis of temporary happiness for human souls in their lives. So, all of these elements will test you. Then, there was just the shortage of water, but when the facilities made with water are not available, that will then be a real test paper. These test papers from the elements will definitely come at their time. This is why you have to become free from being attracted by any possessions of your body and remain free from any support of your body. At present, all facilities are easily available to you; there is nothing lacking. However, while all the facilities are available and while you experiment with all the facilities, your stage of yoga should not fluctuate. To experiment as a yogi means to be detached. When you don’t have anything anyway, that is not called being detached. However, whilst having everything, use them for the sake of it and experiment with them without being attracted by them. Do not use them because you want or like them. Definitely check yourself in this way. Where there is some desire, then, no matter how much effort you make, that desire (ichcha) will not allow you to become good (achcha). Otherwise, at the time of taking a test paper, your time will be spent making effort. You will try to be absorbed in making spiritual endeavour (sadhna) but the facilities (sadhan) will attract you to themselves. You will continue to battle and make effort to try and finish the attraction of the facilities and your time for the test paper will pass by in this tug of war. So, what would the result be then? The facilities with which you experiment make your stage of an easy yogi fluctuate. The test papers from the elements are now going to come at a greater speed. Therefore, check in advance that none of the supports of physical things – food, drink, clothes, your way of interacting, living and forming connections with others – check that none of these things take the form of an obstacle even in a subtle way. Try this out now. Do not begin to try when the test paper comes; there would then be a margin for failure.

The stage of yoga means to have a detached stage while experimenting. Let the spiritual endeavour of an easy yogi be victorious over the facilities, that is, over matter. Let it not be that you are able to make do without one but not without the other and that is why your stage fluctuates. That would not be called a detached life. Attain such success that, through your success, even things unattained give you the feeling of attainment. At the beginning of establishment, in order to test whether they were attracted to things or not, programmes were purposely made to test them on this. For instance, for fifteen days they were given just millet chapattis and buttermilk to eat. They had to try this out when wheat was available. No matter how ill some were, they had to eat just this for fifteen days. No one fell ill (because of this). Those who were asthma patients became well. They had the intoxication that BapDada had given that programme. On the path of devotion, it is said that poison turned into nectar, but this was buttermilk. Faith and intoxication make you victorious in every situation. Such test papers will also come; you will just have dry chapattis to eat. At present, you have all facilities. You might say: Your teeth are not strong enough, you are unable to digest it. What will you do at that time? When you have faith, intoxication and power from the success of yoga, even dry chapattis will work like soft chapattis and you won’t get upset. If you maintain the pride of being an embodiment of success, no one can then upset you. When lions become like cats in front of hatha yogis and snakes become like toys, then none of these things are a big deal in front of you easy Raj Yogi souls, who are embodiments of success. If you have the facility, use it comfortably, but check that you are not deceived at that time (when the time comes). Do not let the situation bring you down from your stage. It is easy to become detached from relationships of your body, but you have to pay a lot of attention to being detached from the things of your body.

4. To be detached from your old nature and sanskars. The nature and sanskars of old bodies are very strong. Those too become a big obstacle in becoming a conqueror of Maya. Many times, BapDada has seen that the snake of an old nature and sanskars finish, but that the line still remains; it repeatedly deceives you at that time (when the time comes). Your strong nature and sanskars make you so influenced by Maya that you often don’t even consider something wrong to be wrong. The power of realisation finishes. In order to be detached from this, you need to have very good checking. When the power of realisation finishes, you have to tell a thousand lies in order to justify your one lie. You become so influenced. To try to prove yourself right is also a sign of being influenced by your old sanskars. One is to clarify something that is right, and the other is to justify yourself by being stubborn. Those who try to prove themselves right by being stubborn cannot become embodiments of success. You also have to check that not even the slightest trace of any of your old nature or sanskars remains hidden somewhere. Do you understand?

Those who are detached in all these four things are said to be loved by the Father and also loved by the family. Have you become those seated on a lotus seat in this way? This is called “follow father“. It was when Father Brahma became seated on a lotus seat that he became number one loved by the Father and also loved by Brahmins, whether in the corporeal form or now, in the avyakt form. Even now, what emerges in the heart of each and every Brahmin? Our Brahma Baba. You don’t feel that you didn’t see him in the corporeal form. You didn’t see him with your eyes, but you saw him with your heart; you saw him with the divine eye of your intellect; you experienced him. This is why every Brahmin says from his or her heart: My Brahma Baba. This is a sign of being loved. Detachment from everything made him loved by the world. So, in the same way, become detached from everything and be loved by all. Do you understand?

Those from Gujarat live close by and so they are also close in following. Your speciality is to be close both geographically and in your stage. BapDada is always pleased to see the children. Achcha.

To all the detached children everywhere who are loved by the Father and are seated on a lotus-seat, to the special souls who are constantly conquerors of Maya and conquerors of matter, to the faithful children who always follow the father, BapDada’s love-filled remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

1) To the server brothers and sisters who have come to Madhuban: During the time that you spent doing service in Madhuban, did you also experience constant yoga for that time? Your yoga did not break, did it? To be a server in Madhuban means to experience being a constant and easy yogi. You will always remember this experience of a short time, will you not? Whenever any adverse situation comes up, just come to Madhuban in your mind. Then, by becoming a resident of Madhuban, you will become an easy yogi and the situation or problem will end. Always keep this experience of yours with you. By remembering this experience, you will receive power. The fruit of service is imperishable. Achcha. It is not a small thing to receive this chance; you have received a very big chance.

A server means one who is always an instrument, like the Father, one who remains humble. Humility is the most elevated means of success. In doing any service, humility and being an instrument are the means of success. So, did you serve with these specialities? In doing such service, there is always success and also pleasure. You enjoy the pleasure of the confluence age and this is why you don’t feel service to be service. For instance, when someone wrestles, he does that with enjoyment considering it to be a sport. There is no tiredness or pain in that because he does that considering it to be entertainment and for enjoying himself. In the same way, if you serve with the speciality of a true server, there can then never be tiredness. Do you understand? You will always feel that you didn’t do service, but that you were just playing a game. So, whatever service you are asked to do, continue to achieve success with these two specialities. By doing so, you will constantly become an embodiment of success. Achcha.

2) True tapasya makes you into real gold in which there is no mixture for all time. Tapasya always makes each of you so capable that you become successful in your household and also in receiving your reward. Have you become such tapaswis? Those who do tapasya are called Raj yogis. So, all of you are Raj yogis. You are not those who would get upset by any situation, are you? So, always check yourself in this way, and then after checkingchange yourself. By just checking yourself, you may become disheartened, you would think “I have this weakness in me, I have this and I don’t know whether I will be able to put it right or not.” So, check yourself and, together with checking yourself, also change yourself. Otherwise, you become weak and the time has passed by, whereas those who do everything according to the time are always victorious. So, are all of you always victorious, elevated souls? Are all of you elevated or are you numberwise? If you were to be asked which number you are, all of you would say “number one”. However, how many would be that number? One or many? Not everyone will become the first number, but you can come in the first division. There will only be one who is number one, but many will come in the first division and so you can become the first number. There would be only one seated on the throne of the kingdom, but he would have many companions, would he not? So, to become part of the royal family means to claim a right to the kingdom. So, the first division means to make effort to claim number one. As yet, none of the seats, except two or three, have been fixed. You can now make whatever effort you want, however much effort you want. BapDada had told you that it is late, but that it is not too late, and this is why everyone has a chance to move forward. Everyone has a chance to win and claim one. So, let there always be zeal and enthusiasm. Let it not be, “Anyone can become number onenumber two is fine for me.” This would be called weak effort. All of you are intense effort-makers, are you not? Achcha.

Blessing: May you become sensible and do three types of service at the same time and become an embodiment of success.
At present, according to the time, three types of service – through thoughts, words and actions – have to happen at the same time. Along with serving through your words and actions, also continue to serve with your mind through your pure thoughts and elevated attitude. You will then receive the fruit of that, because words are filled with power when your mind is powerful. Otherwise, you become like pundits who just speak about it, because they simply read everything and repeat it like parrots. A gyani soul, that is, a sensible person, does all three types of service at the same time and thereby receives the blessing of success.
Slogan: To give the experience of peace, power and happiness through one’s words, actions and drishti is the greatness of great souls.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

31-01-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-10-87 मधुबन

चार बातों से न्यारे बनो

आज बापदादा अपने सर्व कमल-आसनधारी श्रेष्ठ बच्चों को देख रहे हैं। कमल-आसन ब्राह्मण आत्माओं की श्रेष्ठ स्थिति की निशानी है। आसन स्थित होने का (बैठने का) साधन है। ब्राह्मण आत्मायें कमल-स्थिति में स्थित रहती, इसलिए कमल-आसनधारी कहलाती हैं। जैसे ब्राह्मण सो देवता बनते हो, ऐसे आसनधारी सो सिंहासनधारी बनते हैं, जितना समय बहुतकाल वा अल्पकाल कमल आसनधारी बनते हैं उतना ही बहुतकाल या अल्पकाल राज्य सिंहासन-धारी बनते हैं। कमल-आसन विशेष ब्रह्मा बाप समान अति न्यारी और अति प्यारी स्थिति का सिम्बल (चिन्ह) है। आप ब्राह्मण बच्चे फालो फादर करने वाले हो, इसलिए बाप समान कमल-आसनधारी हो। अति न्यारे की निशानी है – वह बाप और सर्व परिवार के अति प्यारे बनेंगे। न्यारापन अर्थात् चारों ओर से न्यारा।

(1) अपने देह भान से न्यारा। जैसे साधारण दुनियावी आत्माओं को चलते-फिरते, हर कर्म करते स्वत: और सदा देह का भान रहता ही है, मेहनत नहीं करते कि मैं देह हूँ, न चाहते भी सहज स्मृति रहती ही है। ऐसे कमल-आसनधारी ब्राह्मण आत्मायें भी इस देहभान से स्वत: ही ऐसे न्यारे रहें जैसे अज्ञानी आत्म-अभिमान से न्यारे हैं। हैं ही आत्म-अभिमानी। शरीर का भान अपने तरफ आकर्षित न करे। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा, चलते-फिरते फरिश्ता-रूप वा देवता-रूप स्वत: स्मृति में रहा। ऐसे नैचुरल देही-अभिमानी स्थिति सदा रहे – इसको कहते हैं देहभान से न्यारे। देहभान से न्यारा ही परमात्म-प्यारा बन जाता है।

(2) इस देह के जो सर्व सम्बन्ध हैं, दृष्टि से, वृत्ति से, कृति से – उन सबसे न्यारा। देह का सम्बन्ध देखते हुए भी स्वत: ही आत्मिक, देही सम्बन्ध स्मृति में रहे इसलिए दीपावली के बाद भैया-दूज मनाया ना। जब चमकता हुआ सितारा वा जगमगाता अविनाशी दीपक बन जाते हो, तो भाई-भाई का सम्बन्ध हो जाता है। आत्मा के नाते भाई-भाई का सम्बन्ध और साकार ब्रह्मावंशी ब्राह्मण बनने के नाते से बहन-भाई का श्रेष्ठ शुद्ध सम्बन्ध स्वत: ही स्मृति में रहता है। तो न्यारा-पन अर्थात् देह और देह के सम्बन्ध से न्यारा।

(3) देह के विनाशी पदार्थों में भी न्यारापन। अगर कोई पदार्थ किसी भी कर्मेन्द्रिय को विचलित करता है अर्थात् आसक्ति-भाव उत्पन्न होता है तो वह न्यारापन नहीं रहता। सम्बन्ध से न्यारा फिर भी सहज हो जाते लेकिन सर्व पदार्थों की आसक्ति से न्यारा – ‘अनासक्त’ बनने में रॉयल रूप की आसक्ति रह जाती है। सुनाया था ना कि आसक्ति का स्पष्ट रूप इच्छा है। इसी इच्छा का सूक्ष्म, महीन रूप है – अच्छा लगना। इच्छा नहीं है लेकिन अच्छा लगता है – यह महीन रूप ‘अच्छा’ के बदले ‘इच्छा’ का रूप भी ले सकता है। तो इसकी अच्छी रीति चेकिंग करो कि यह पदार्थ अर्थात् अल्पकाल सुख के साधन आकर्षित तो नहीं करते हैं? कोई भी साधन समय पर प्राप्त न हो तो सहज साधना अर्थात् सहजयोग की स्थिति डगमग तो नहीं होती है? कोई भी साधन के वश, आदत से मजबूर तो नहीं होते? क्योंकि यह सर्व पदार्थ अर्थात् साधन प्रकृति के साधन हैं। तो आप प्रकृतिजीत अर्थात् प्रकृति के आधार से न्यारे कमल-आसनधारी ब्राह्मण हो। मायाजीत के साथ-साथ प्रकृतिजीत भी बनते हो। जैसे ही मायाजीत बनते हो, तो माया बार-बार भिन्न-भिन्न रूपों में ट्रायल करती है कि मेरे साथी मायाजीत बन रहे हैं, तो भिन्न-भिन्न पेपर लेती है। प्रकृति का पेपर है – साधनों द्वारा आप सभी को हलचल में लाना। जैसे – पानी। अभी यह कोई बड़ा पेपर नहीं आया है। लेकिन पानी से बने हुए साधन, अग्नि द्वारा बने हुए साधन, ऐसे हर प्रकृति के तत्वों द्वारा बने हुए साधन मनुष्य आत्माओं के जीवन का अल्पकाल के सुख का आधार हैं। तो यह सब तत्व पेपर लेंगे। अभी तो सिर्फ पानी की कमी हुई है लेकिन पानी द्वारा बने हुए पदार्थ जब प्राप्त नहीं होंगे तो असली पेपर उस समय होगा। यह प्रकृति द्वारा पेपर भी समय प्रमाण आने ही हैं इसलिए, देह के पदार्थों की आसक्ति वा आधार से भी निराधार ‘अनासक्त’ होना है। अभी तो सब साधन अच्छी तरह से प्राप्त हैं, कोई कमी नहीं है। लेकिन साधनों के होते, साधनों को प्रयोग में लाते, योग की स्थिति डगमग न हो। योगी बन प्रयोग करना – इसको कहते हैं न्यारा। है ही कुछ नहीं, तो उसको न्यारा नहीं कहेंगे। होते हुए निमित्त-मात्र, अनासक्त रूप से प्रयोग करना; इच्छा वा अच्छा होने के कारण नहीं यूज़ करना – यह चेंकिग जरूर करो। जहाँ इच्छा होगी, फिर भल कितनी भी मेहनत करेंगे लेकिन इच्छा, अच्छा बनने नहीं देगी। पेपर के समय मेहनत करने में ही समय बीत जायेगा। आप साधना में रहने का प्रयत्न करेंगे और साधन अपने तरफ आकर्षित करेंगे। आप युद्ध कर, मेहनत कर साधनों की आकर्षण को मिटाने का प्रयत्न करते रहेंगे तो युद्ध की कशमकश में ही पेपर का समय बीत जायेगा। रिजल्ट क्या हुई? प्रयोग करने वाले साधन ने सहजयोगी स्थिति से डगमग कर दिया ना। प्रकृति के पेपर तो अभी और रफ्तार से आने वाले हैं इसलिए, पहले से ही पदार्थों के विशेष आधार – खाना, पीना, पहनना, चलना, रहना और सम्पर्क में आना – इन सबकी चेकिंग करो कि कोई भी बात महीन रूप में भी विघ्न-रूप तो नहीं बनती? यह अभी से ट्रायल करो। जिस समय पेपर आयेगा उस समय ट्रायल नहीं करना, नहीं तो फेल होने की मार्जिन है।

योग-स्थिति अर्थात् प्रयोग करते हुए न्यारी स्थिति। सहज योग की साधना साधनों के ऊपर अर्थात् प्रकृति के ऊपर विजयी हो। ऐसा न हो उसके बिना तो चल सकता लेकिन इसके बिना रह नहीं सकते, इसलिए डगमग स्थिति हो गई… इसको भी न्यारी जीवन नहीं कहेंगे। ऐसी सिद्धि को प्राप्त करो जो आपके सिद्धि द्वारा अप्राप्ति भी प्राप्ति का अनुभव कराये। जैसे स्थापना के आरम्भ में आसक्ति है वा नहीं, उसकी ट्रायल के बीच-बीच में जानबूझकर प्रोग्राम रखते रहे। जैसे, 15 दिन सिर्फ ढ़ोढ़ा और छाछ खिलाई, गेहूँ होते भी यह ट्रायल कराई गई। कैसे भी बीमार 15 दिन इसी भोजन पर चले। कोई भी बीमार नहीं हुआ। दमा की तकलीफ वाले भी ठीक हो गये ना। नशा था कि बापदादा ने प्रोग्राम दिया है! जब भक्ति में कहते हैं ‘विष भी अमृत हो गया’, यह तो छाछ थी! निश्चय और नशा हर परिस्थिति में विजयी बना देता है। तो ऐसे पेपर भी आयेंगे – सूखी रोटी भी खानी पड़ेगी। अभी तो साधन हैं। कहेंगे – दांत नहीं चलते, हज़म नहीं होता। लेकिन उस समय क्या करेंगे? जब निश्चय, नशा, योग की सिद्धि की शक्ति होती है तो सूखी रोटी भी नर्म रोटी का काम करेगी, परेशान नहीं करेगी। आप सिद्धि-स्वरूप की शान में हो तो कोई भी परेशान नहीं कर सकता है। जब हठयोगियों के आगे शेर बिल्ली बन जाता, सांप खिलौना बन जाता, तो आप सहज राजयोगी, सिद्धि-स्वरूप आत्माओं के लिए यह सब कोई बड़ी बात नहीं। है तो आराम से यूज़ करो लेकिन समय पर धोखा न दे – यह चेक करो। परिस्थिति, स्थिति को नीचे न ले आये। देह के सम्बन्ध से न्यारा होना सहज है लेकिन देह के पदार्थों से न्यारा होना – इसमें बहुत अच्छा अटेन्शन (ध्यान) चाहिए।

(4) पुराने स्वभाव, संस्कार से न्यारा बनना है। पुरानी देह के स्वभाव और संस्कार भी बहुत कड़े हैं। मायाजीत बनने में यह भी बड़ा विघ्न-रूप बनते हैं। कई बार बापदादा देखते हैं – पुराना स्वभाव, संस्कार रूपी सांप खत्म भी हो जाता लेकिन लकीर रह जाती जो समय आने पर बार-बार धोखा दे देती। यह कड़े स्वभाव और संस्कार कई बार इतना माया के वशीभूत बना देते हैं जो रांग को रांग समझते ही नहीं। ‘महसूसता-शक्ति’ समाप्त हो जाती है। इससे न्यारा होना – इसकी भी चेंकिग अच्छी तरह चाहिए। जब महसूसता-शक्ति समाप्त हो जाती है तो और ही एक झूठ के पीछे हजार झूठ अपनी बात को सिद्ध करने के लिए बोलने पड़ते हैं। इतना परवश हो जाते हैं! अपने को सत्य सिद्ध करना – यह भी पुराने संस्कार के वशीभूत की निशानी है। एक है यथार्थ बात स्पष्ट करना, दूसरा है अपने को जिद्द से सिद्ध करना। तो जिद्द से सिद्ध करने वाले कभी सिद्धि-स्वरूप नहीं बन सकते हैं। यह भी चेक करो कि कोई भी पुराना स्वभाव, संस्कार अंशमात्र भी छिपे हुए रूप में रहा हुआ तो नहीं है? समझा?

इन चार ही बातों से न्यारा जो है उसको कहेंगे बाप का प्यारा, परिवार का प्यारा। ऐसे कमल-आसनधारी बने हो? इसी को ही कहेंगे फालो फादर। ब्रह्मा बाप भी कमल-आसनधारी बने तब नम्बरवन बाप के प्यारे बने, ब्राह्मणों के प्यारे बने। चाहे व्यक्त रूप में, चाहे अभी अव्यक्त रूप में। अभी भी हर एक ब्राह्मण के दिल से क्या निकलता है? हमारा ब्रह्मा बाबा। यह नहीं अनुभव करते कि हमने तो साकार में देखा नहीं। लेकिन नयनों से नहीं देखा, दिल से देखा, बुद्धि के दिव्य नेत्रों द्वारा देखा, अनुभव किया इसलिए, हर ब्राह्मण दिल से कहता – ठमेरा ब्रह्मा बाबा”। यह प्यारेपन की निशानी है। चारों ओर के न्यारेपन ने विश्व का प्यारा बना दिया। तो ऐसे ही चारों ओर के न्यारे और सर्व के प्यारे बनो। समझा?

गुजरात समीप रहता है, तो फालो करने में भी समीप है। स्थान और स्थिति दोनों में समीप बनना – यही विशेषता है। बापदादा तो सदा बच्चों को देख हर्षित होते हैं। अच्छा।

चारों ओर के कमल-आसनधारी, न्यारे और बाप के प्यारे बच्चों को, सदा मायाजीत, प्रकृतिजीत विशेष आत्माओं को, सदा फालो फादर करने वाले वफादार बच्चों को बापदादा का स्नेह सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

मधुबन में आये हुए सेवाधारी भाई बहिनों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात:-

जितना समय मधुबन में सेवा की, उतना समय निरन्तर योग का अनुभव किया? योग टूटा तो नहीं? मधुबन में सेवाधारी बनना अर्थात् निरन्तर योगी, सहजयोगी के अनुभवी बनना। यह थोड़े समय का अनुभव भी सदा याद रहेगा ना। जब भी कोई परिस्थिति आये तो मन से मधुबन में पहुँच जाना। तो मधुबन निवासी बनने से परिस्थिति वा समस्या खत्म हो जायेगी और आप सहजयोगी बन जायेंगे। सदैव अपने इस अनुभव को साथ रखना। तो अनुभव याद करने से शक्ति आ जायेगी। सेवा का मेवा अविनाशी है। अच्छा। यह चांस मिलना भी कम नहीं है, बहुत बड़ा चांस मिला है।

सेवाधारी अर्थात् सदा बाप समान निमित्त बनने वाले, निर्मान रहने वाले। निर्मानता ही सबसे श्रेष्ठ सफलता का साधन है। कोई भी सेवा में सफलता का साधन नम्रता भाव है, निमित्त भाव है। तो इन्हीं विशेषताओं से सेवा की? ऐसी सेवा में सदा सफलता भी है और सदा मौज है। संगमयुग की मौज मनाई, इसलिए सेवा, सेवा नहीं लगी। जैसे कोई मल्लयुद्ध करते हैं तो अपनी मौज से खेल समझकर करते हैं। उसमें थकावट वा दर्द नहीं होता है क्योंकि मनोरंजन समझकर करते हैं, मौज मनाने के लिए करते हैं। ऐसे ही अगर सच्चे सेवाधारी की विशेषता से सेवा करते हो तो कभी थकावट नहीं हो सकती। समझा? सदा ऐसे ही लगेगा जैसे सेवा नहीं लेकिन खेल कर रहे हैं। तो कोई भी सेवा मिले, इन दो विशेषताओं से सफलता को पाते रहना। इससे सदा सफलता-स्वरूप बन जायेंगे। अच्छा।

2- सच्ची तपस्या सदा के लिए सच्चा सोना बना देती है। जिसमें जरा भी मिक्स (मिलावट) नहीं। तपस्या सदा हरेक को ऐसा योग्य बनाती है जो प्रवृत्ति में भी सफल और प्रालब्ध प्राप्त करने में भी सफल। ऐसे तपस्वी बने हो? तपस्या करने वालों को राजयोगी कहते हैं। तो आप सभी राजयोगी हो। कभी किसी भी परिस्थिति से विचलित होने वाले तो नहीं? तो सदा अपने को इसी रीति से चेक करो और चेक करने के बाद चेंज करो। सिर्फ चेक करने से भी दिलशिकस्त हो जायेंगे, सोचेंगे कि हमारे में यह भी कमी है, यह भी है, पता नहीं ठीक होगा या नहीं। तो चेक भी करो और चेक के साथ चेन्ज भी करो। समझो, कमजोर बन गये, समय चला गया, लेकिन समय प्रमाण कर्तव्य करने वालों की सदा विजय होती है। तो सभी सदा विजयी, श्रेष्ठ आत्मायें हो? सभी श्रेष्ठ हो या नम्बरवार? अगर नम्बर पूछें कि किस नम्बर वाले हो तो सब नम्बरवन कहेंगे। लेकिन वह नम्बर कितने होंगे? एक या अनेक? फर्स्ट नम्बर तो सब नहीं बनेंगे लेकिन फर्स्ट डिवीजन में तो आ सकते हैं। फर्स्ट नम्बर एक होगा लेकिन फर्स्ट डिवीजन में तो बहुत आयेंगे इसलिए फर्स्ट नम्बर बन सकते हो। राजगद्दी पर एक बैठेगा लेकिन और भी साथी तो होंगे ना। तो रॉयल फैमिली में आना भी राज्य अधिकारी बनना है। तो फर्स्ट डिवीजन अर्थात् नम्बरवन में आने का पुरुषार्थ करो। अभी तक कोई भी सीट सिवाए दो-तीन के फिक्स नहीं हुई है। अभी जो चाहे, जितना पुरुषार्थ करना चाहे कर सकता है। बापदादा ने सुनाया था कि अभी लेट हुई है लेकिन टूलेट नहीं हुई है इसलिए सभी को आगे बढ़ने का चांस है। विन कर वन में आने का चांस है। तो सदैव उमंग-उत्साह रहे। ऐसे नहीं – चलो कोई भी नम्बरवन बने, मैं नम्बर दो ही सही। इसको कहते हैं कमजोर पुरुषार्थ। आप सभी तो तीव्र पुरुषार्थी हो ना? अच्छा।

वरदान:- समझदार बन तीन प्रकार की सेवा साथ-साथ करने वाले सफलतामूर्त भव
वर्तमान समय के प्रमाण मन्सा-वाचा और कर्मणा तीनों प्रकार की सेवा साथ-साथ चाहिए। वाणी और कर्म के साथ मन्सा शुभ संकल्प वा श्रेष्ठ वृत्ति द्वारा सेवा करते रहो तो फल फलीभूत हो जायेगा क्योंकि वाणी में शक्ति तब आती है जब मन्सा शक्तिशाली हो, नहीं तो बोलने वाले पण्डित समान हो जाते क्योंकि तोते मुआफिक पढ़कर रिपीट करते हैं। ज्ञानी अर्थात् समझदार तीनों प्रकार की सेवा साथ-साथ करते और सफलता का वरदान प्राप्त कर लेते हैं।
स्लोगन:- अपने बोल, कर्म और दृष्टि से शान्ति, शक्ति व खुशी का अनुभव कराना ही महान आत्माओं की महानता है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 January 2020

31-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – योग, अग्नि के समान है, जिसमें तुम्हारे पाप जल जाते हैं, आत्मा सतोप्रधान बन जाती है इसलिए एक बाप की याद में (योग में) रहो”
प्रश्नः- पुण्य आत्मा बनने वाले बच्चों को किस बात का बहुत-बहुत ध्यान रखना है?
उत्तर:- पैसा दान किसे देना है, इस बात पर पूरा ध्यान रखना है। अगर किसको पैसा दिया और उसने जाकर शराब आदि पिया, बुरे कर्म किये तो उसका पाप तुम्हारे ऊपर आ जायेगा। तुम्हें पाप आत्माओं से अब लेन-देन नहीं करनी है। यहाँ तो तुम्हें पुण्य आत्मा बनना है।
गीत:- न वह हमसे जुदा होंगे……… Audio Player

ओम् शान्ति। इसको कहा जाता है याद की आग। योग अग्नि माना याद की आग। आग अक्षर क्यों कहा है? क्योंकि इसमें पाप जल जाते हैं। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो-कैसे हम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हैं। सतोप्रधान का अर्थ ही है पुण्य आत्मा और तमोप्रधान का अर्थ ही है पाप आत्मा। कहा भी जाता है यह बहुत पुण्य आत्मा है, यह पाप आत्मा है। इससे सिद्ध होता है आत्मा ही सतोप्रधान बनती है फिर पुनर्जन्म लेते-लेते तमोप्रधान बनती है इसलिए इनको पाप आत्मा कहा जाता है। पतित-पावन बाप को भी इसलिए याद करते हैं कि आकर पावन आत्मा बनाओ। पतित आत्मा किसने बनाया? यह किसको भी पता नहीं। तुम जानते हो जब पावन आत्मा थे तो उनको रामराज्य कहा जाता था। अभी पतित आत्मायें हैं इसलिए इनको रावण राज्य कहा जाता है। भारत ही पावन, भारत ही पतित बनता है। बाप ही आकर भारत को पावन बनाते हैं। बाकी सब आत्मायें पावन बन शान्तिधाम में चली जाती हैं। अभी है दु:खधाम। इतनी सहज बात भी बुद्धि में बैठती नहीं है। जब दिल से समझें तब सच्चा ब्राह्मण बनें। ब्राह्मण बनने बिगर बाप से वर्सा मिल न सके।

अब यह है संगमयुग का यज्ञ। यज्ञ के लिए तो ब्राह्मण जरूर चाहिए। अभी तुम ब्राह्मण बने हो। जानते हो मृत्युलोक का यह अन्तिम यज्ञ है। मृत्युलोक में ही यज्ञ होते हैं। अमरलोक में यज्ञ होते नहीं। भक्तों की बुद्धि में यह बातें बैठ न सकें। भक्ति बिल्कुल अलग है, ज्ञान अलग है। मनुष्य फिर वेदों-शास्त्रों को ही ज्ञान समझ लेते हैं। अगर उनमें ज्ञान होता तो फिर मनुष्य वापस चले जाते। परन्तु ड्रामा अनुसार वापिस कोई भी जाता नहीं। बाबा ने समझाया है पहले नम्बर को ही सतो, रजो, तमो में आना है तो दूसरे फिर सिर्फ सतो का पार्ट बजाए वापिस कैसे जा सकते? उनको तो फिर तमोप्रधान में आना ही है, पार्ट बजाना ही है। हर एक एक्टर की ताकत अपनी-अपनी होती है ना। बड़े-बड़े एक्टर्स कितने नामीग्रामी होते हैं। सबसे मुख्य क्रियेटर, डायरेक्टर और मुख्य एक्टर कौन है? अभी तुम समझते हो गॉड फादर है मुख्य, पीछे फिर जगत अम्बा, जगतपिता। जगत के मालिक, विश्व के मालिक बनते हैं, इनका पार्ट जरूर ऊंचा है। तो उनकी पे (पगार) भी ऊंची है। पगार देते हैं बाप, जो सबसे ऊंच है। कहते हैं तुम मुझे इतनी मदद करते हो तो तुमको पगार भी जरूर इतनी मिलेगी। बैरिस्टर पढ़ायेगा तो कहेगा ना, इतना ऊंच पद प्राप्त कराता हूँ तो इस पढ़ाई पर बच्चों को कितना अटेन्शन देना चाहिए। गृहस्थ में भी रहना है, कर्मयोग सन्यास है ना। गृहस्थ व्यवहार में रहते, सब कुछ करते हुए बाप से वर्सा पाने का पुरुषार्थ कर सकते हैं, इसमें कोई तकलीफ नहीं है। कामकाज करते शिवबाबा की याद में रहना है। नॉलेज तो बड़ी सहज है। गाते भी हैं-हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। पावन दुनिया में तो राजधानी है तो बाप उस राजधानी का भी लायक बनाते हैं।

इस ज्ञान की मुख्य दो सब्जेक्ट हैं – अल़फ और बे। स्वदर्शन चक्रधारी बनो और बाप को याद करो तो तुम एवर-हेल्दी और वेल्दी बनेंगे। बाप कहते हैं मुझे वहाँ याद करो। घर को भी याद करो, मुझे याद करने से तुम घर चले जायेंगे। स्वदर्शन चक्रधारी बनने से तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। यह बुद्धि में अच्छी रीति रहना चाहिए। इस समय तो सब तमोप्रधान हैं। सुखधाम में सुख, शान्ति, सम्पत्ति सब मिलता है। वहाँ एक धर्म होता है। अभी तो देखो घर-घर में अशान्ति है। स्टूडेन्ट लोग देखो कितना हंगामा करते हैं। अपना न्यू ब्लड दिखाते हैं। यह है तमोप्रधान दुनिया, सतयुग है नई दुनिया। बाप संगम पर आया हुआ है। महाभारत लड़ाई भी संगम की ही है। अभी यह दुनिया बदलनी है। बाप भी कहते हैं मैं नई दुनिया की स्थापना करने संगम पर आता हूँ, इनको ही पुरुषोत्तम संगमयुग कहते हैं। पुरुषोत्तम मास, पुरुषोत्तम संवत भी मनाते हैं। परन्तु यह पुरुषोत्तम संगम का किसको पता नहीं है। संगम पर ही बाप आकर तुमको हीरे जैसा बनाते हैं। फिर इनमें भी नम्बरवार तो होते ही हैं। हीरे जैसा राजा बन जाते हैं, बाकी सोने जैसी प्रजा बन जाती है। बच्चे ने जन्म लिया और वर्से का हकदार बना। अभी तुम पावन दुनिया के हकदार बन जाते हो। फिर उसमें ऊंच पद पाने के लिए पुरुषार्थ करना है। इस समय का तुम्हारा पुरुषार्थ कल्प-कल्प का पुरुषार्थ होगा। समझा जाता है यह कल्प-कल्प ऐसा ही पुरुषार्थ करेंगे। इनसे जास्ती पुरुषार्थ होगा ही नहीं। जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर यह प्रजा में ही आयेंगे। यह साहूकार प्रजा में दास-दासियाँ बनेंगे। नम्बरवार तो होते हैं ना। पढ़ाई के आधार से सब मालूम पड़ जाता है। बाबा झट बता सकते हैं इस हालत में तुम्हारा कल शरीर छूट जाये तो क्या बनेंगे? दिन-प्रतिदिन टाइम थोड़ा होता जाता है। अगर कोई शरीर छोड़ेंगे फिर तो पढ़ नहीं सकेंगे, हाँ थोड़ा सिर्फ बुद्धि में आयेगा। शिवबाबा को याद करेंगे। जैसे छोटे बच्चे को भी तुम याद कराते हो तो शिवबाबा-शिवबाबा कहता रहता है। तो उनका भी कुछ मिल सकता है। छोटा बच्चा तो महात्मा मिसल है, विकारों का पता नहीं। जितना बड़ा होता जायेगा, विकारों का असर होता जायेगा, क्रोध होगा, मोह होगा…….। अभी तुमको तो समझाया जाता है इस दुनिया में इन ऑखों से जो कुछ देखते हो उनसे ममत्व मिटा देना है। आत्मा जानती है यह तो सब कब्रदाखिल होने हैं। तमोप्रधान चीजें हैं। मनुष्य मरते हैं तो पुरानी चीज़ें करनीघोर को दे देते हैं। बाप तो फिर बेहद का करनीघोर है, धोबी भी है। तुमसे लेते क्या हैं और देते क्या हैं? तुम जो कुछ थोड़ा धन भी देते हो वह तो खत्म होना ही है। फिर भी बाप कहते हैं यह धन रखो अपने पास। सिर्फ इनसे ममत्व मिटा दो। हिसाब-किताब बाप को देते रहो। फिर डायरेक्शन मिलते रहेंगे। तुम्हारा यह कखपन जो है, युनिवर्सिटी में और हॉस्पिटल में हेल्थ और वेल्थ के लिए लगा देते हैं। हॉस्पिटल होती है बीमार के लिए, युनिवर्सिटी होती है पढ़ाने के लिए। यह तो कॉलेज और हॉस्पिटल दोनों इकट्ठी हैं। इनके लिए तो सिर्फ तीन पैर पृथ्वी के चाहिए। बस जिनके पास और कुछ नहीं है वह सिर्फ 3 पैर जमीन के दे देवें। उसमें क्लास लगा दें। 3 पैर पृथ्वी के, वह तो सिर्फ बैठने की जगह हुई ना। आसन 3 पैर का ही होता है। 3 पैर पृथ्वी पर कोई भी आयेगा, अच्छी रीति समझकर जायेगा। कोई आया, आसन पर बिठाया और बाप का परिचय दिया। बैजेज़ भी बहुत बनवा रहे हैं सर्विस के लिए, यह है बहुत सिम्पुल। चित्र भी अच्छे हैं, लिखत भी पूरी है। इनसे तुम्हारी बहुत सर्विस होगी। दिन-प्रतिदिन जितनी आ़फतें आती रहेंगी तो मनुष्यों को भी वैराग्य आयेगा और बाप को याद करने लग पड़ेंगे-हम आत्मा अविनाशी हैं, अपने अविनाशी बाप को याद करें। बाप खुद कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप उतर जायें। अपने को आत्मा समझ और बाप से पूरा लव रखना है। देह-अभिमान में न आओ। हाँ, बाहर का प्यार भल बच्चों आदि से रखो। परन्तु आत्मा का सच्चा प्यार रूहानी बाप से हो। उनकी याद से ही विकर्म विनाश होंगे। मित्र-सम्बन्धियों, बच्चों आदि को देखते हुए भी बुद्धि बाप की याद में लटकी रहे। तुम बच्चे जैसे याद की फाँसी पर लटके हुए हो। आत्मा को अपने बाप परमात्मा को ही याद करना है। बुद्धि ऊपर लटकी रहे। बाप का घर भी ऊपर है ना। मूलवतन, सूक्ष्मवतन और यह है स्थूलवतन। अब फिर वापिस जाना है।

अब तुम्हारी मुसाफिरी पूरी हुई है। तुम अब मुसाफिरी से लौट रहे हो। तो अपना घर कितना प्यारा लगता है। वह है बेहद का घर। वापिस अपने घर जाना है। मनुष्य भक्ति करते हैं-घर जाने के लिए, परन्तु ज्ञान पूरा नहीं है तो घर जा नहीं सकते। भगवान पास जाने के लिए अथवा निवार्णधाम में जाने के लिए कितनी तीर्थ यात्रायें आदि करते हैं, मेहनत करते हैं। सन्यासी लोग सिर्फ शान्ति का रास्ता ही बताते हैं। सुखधाम को तो जानते ही नहीं। सुखधाम का रास्ता सिर्फ बाप ही बतलाते हैं। पहले जरूर निवार्णधाम, वानप्रस्थ में जाना है जिसको ब्रह्माण्ड भी कहते हैं। वह फिर ब्रह्म को ईश्वर समझ बैठे हैं। हम आत्मा बिन्दी हैं। हमारा रहने का स्थान है ब्रह्माण्ड। तुम्हारी भी पूजा तो होती है ना। अब बिन्दी की पूजा क्या करेंगे। जब पूजा करते हैं तो सालिग्राम बनाए एक-एक आत्मा को पूजते हैं। बिन्दी की पूजा कैसे हो-इसलिए बड़े-बड़े बनाते हैं। बाप को भी अपना शरीर तो है नहीं। यह बातें अभी तुम जानते हो। चित्रों में भी तुमको बड़ा रूप दिखाना पड़े। बिन्दी से कैसे समझेंगे? यूँ बनाना चाहिए स्टॉर। ऐसे बहुत तिलक भी मातायें लगाती हैं, तैयार मिलते हैं सफेद। आत्मा भी सफेद होती है ना, स्टॉर मिसल। यह भी एक निशानी है। भृकुटी के बीच आत्मा रहती है। बाकी अर्थ का किसको पता भी नहीं है। यह बाप समझाते हैं इतनी छोटी आत्मा में कितना ज्ञान है। इतने बाम्ब्स आदि बनाते रहते हैं। वन्डर है, आत्मा में इतना पार्ट भरा हुआ है। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। इतनी छोटी आत्मा शरीर से कितना काम करती है। आत्मा अविनाशी है, उनका पार्ट कभी विनाश नही होता है, न एक्ट बदलती है। अभी बहुत बड़ा झाड़ है। सतयुग में कितना छोटा झाड़ होता है। पुराना तो होता नहीं। मीठे छोटे झाड़ का कलम अभी लग रहा है। तुम पतित बने थे अब फिर पावन बन रहे हो। छोटी-सी आत्मा में कितना पार्ट है। कुदरत यह है, अविनाशी पार्ट चलता रहता है। यह कभी बन्द नहीं होता, अविनाशी चीज़ है, उसमें अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। यह वन्डर है ना। बाप समझाते हैं-बच्चे, देही-अभिमानी बनना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, इसमें है मेहनत, जास्ती पार्ट तुम्हारा है। बाबा का इतना पार्ट नहीं, जितना तुम्हारा।

बाप कहते हैं तुम स्वर्ग में सुखी बन जाते हो तो मैं विश्राम में बैठ जाता हूँ। हमारा कोई पार्ट नहीं। इस समय इतनी सर्विस करता हूँ ना। यह नॉलेज इतनी वन्डरफुल है, तुम्हारे सिवाए ज़रा भी कोई नहीं जानते हैं। बाप की याद में रहने बिगर धारणा भी नहीं होगी। खान-पान आदि का भी फ़र्क पड़ने से धारणा में फ़र्क पड़ जाता है, इसमें प्योरिटी बड़ी अच्छी चाहिए। बाप को याद करना बहुत सहज है। बाप को याद करना है और वर्सा पाना है इसलिए बाबा ने कहा था तुम अपने पास भी चित्र रख दो। योग का और वर्से का चित्र बनाओ तो नशा रहेगा। हम ब्राह्मण सो देवता बन रहे हैं। फिर हम देवता सो क्षत्रिय बनेंगे। ब्राह्मण हैं पुरुषोत्तम संगमयुगी। तुम पुरुषोत्तम बनते हो ना। मनुष्यों को यह बातें बुद्धि में बिठाने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है। दिन-प्रतिदिन जितना नॉलेज को समझते जाते हैं तो खुशी भी बढ़ेगी।

तुम बच्चे जानते हो बाबा हमारा बहुत कल्याण करते हैं। कल्प-कल्प हमारी चढ़ती कला होती है। यहाँ रहते शरीर निर्वाह अर्थ भी सब-कुछ करना पड़ता है। बुद्धि में रहे हम शिवबाबा के भण्डारे से खाते हैं, शिवबाबा को याद करते रहेंगे तो काल कंटक सब दूर हो जायेंगे। फिर यह पुराना शरीर छोड़ चले जायेंगे। बच्चे समझते हैं-बाबा कुछ भी लेते नहीं हैं। वह तो दाता है। बाप कहते हैं हमारी श्रीमत पर चलो। तुम्हें पैसे का दान किसे करना है, इस बात पर पूरा ध्यान देना है। अगर किसको पैसा दिया और उसने जाकर शराब आदि पिया, बुरे काम किये तो उसका पाप तुम्हारे ऊपर आ जायेगा। पाप आत्माओं से लेन-देन करते पाप आत्मा बन जाते हैं। कितना फ़र्क है। पाप आत्मा, पाप आत्मा से ही लेन-देन कर पाप आत्मा बन जाते हैं। यहाँ तो तुमको पुण्य आत्मा बनना है इसलिए पाप आत्माओं से लेन-देन नहीं करनी है। बाप कहते हैं कोई को भी दु:ख नहीं देना है, कोई में मोह नहीं रखना है। बाप भी सैक्रीन बनकर आते हैं। पुराना कखपन लेते हैं, देते देखो कितना ब्याज हैं। बड़ा भारी ब्याज मिलता है। कितना भोला है, दो मुट्ठी के बदले महल दे देते हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब मुसाफिरी पूरी हुई, वापस घर जाना है इसलिए इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रख बुद्धि-योग बाप की याद में ऊपर लटकाना है।

2) संगमयुग पर बाप ने जो यज्ञ रचा है, इस यज्ञ की सम्भाल करने के लिए सच्चा-सच्चा पवित्र ब्राह्मण बनना है। काम काज करते बाप की याद में रहना है।

वरदान:- अपने सर्व खजानों को अन्य आत्माओं की सेवा में लगाकर सहयोगी बनने वाले सहजयोगी भव
सहजयोगी बनने का साधन है-सदा अपने को संकल्प द्वारा, वाणी द्वारा और हर कार्य द्वारा विश्व की सर्व आत्माओं के प्रति सेवाधारी समझ सेवा में ही सब कुछ लगाना। जो भी ब्राह्मण जीवन में शक्तियों का, गुणों का, ज्ञान का वा श्रेष्ठ कमाई के समय का खजाना बाप द्वारा प्राप्त हुआ है वह सेवा में लगाओ अर्थात् सहयोगी बनो तो सहजयोगी बन ही जायेंगे। लेकिन सहयोगी वही बन सकते हैं जो सम्पन्न है। सहयोगी बनना अर्थात् महादानी बनना।
स्लोगन:- बेहद के वैरागी बनो तो आकर्षण के सब संस्कार सहज ही खत्म हो जायेंगे।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

ब्राह्मणों की भाषा आपस में अव्यक्त भाव की होनी चाहिए। किसी की सुनी हुई ग़लती को संकल्प में भी न तो स्वीकार करना है, न कराना है। संगठन में विशेष अव्यक्त अनुभवों की आपस में लेन-देन करनी है।

TODAY MURLI 31 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 January 2020

31/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this yoga is like a fire that burns all of your sins away and makes you souls satopradhan. Therefore, stay in remembrance of the one Father.
Question: You are becoming charitable souls and so what do you have to be very cautious about?
Answer: You have to be very cautious about whom you give money to. If you give money to someone and he spends it on alcohol or performs a bad act with it, the sins of that will be on you. You must no longer have any give and take with sinful souls. You have to make yourselves into charitable souls here.
Song: Neither will He be separated from us, nor will our flame of love for Him ever die. Audio Player

Om shanti. This yoga is also called the fire of remembrance. The fire of yoga means the fire of remembrance. Why is the word “fire” used? Because you burn your sins away with it. Only you children know how to become satopradhan from tamopradhan. To be satopradhan means to be a charitable soul and to be tamopradhan means to be a sinful soul. It is said that someone is a very charitable soul or that someone is a very sinful soul. This proves that it is souls that become satopradhan, and it is souls that become tamopradhan by taking rebirth. This is why souls are called sinful souls. Therefore, people remember the Purifier Father and say: Come and make us souls pure! Who made you souls sinful? No one knows this. You know that when you were pure souls, Bharat was called the kingdom of Rama (God). At present, all souls are sinful and this is why the world is now called the kingdom of Ravan. It is Bharat that becomes pure and Bharat that becomes impure. Only the Father can come and make the people of Bharat pure. All other souls are purified and then taken to the land of peace. This world is now the land of sorrow. They can’t make such an easy thing sit in their intellects! Only when they understand this with their hearts can they become true Brahmins. You cannot receive the inheritance from the Father unless you become a Brahmin. This is the sacrificial fire of the confluence age. Brahmins are definitely needed for a sacrificial fire. You- have now become Brahmins. You know that this sacrificial fire is the last one in the land of death. There are sacrificial fires in the land of death, but there are no sacrificial fires in the land of immortality. Devotees are unable to make these things sit in their intellects. Devotion is totally distinct from knowledge. Those people believe that the Vedas and scriptures are knowledge. If there were knowledge in those books, they would have been able to return home. However, according to the drama, no one can return home yet. Baba has explained that the first number soul has to go through the sato, rajo and tamo stages, so then, how could the rest simply play their sato part and then return home? They too have to enter their tamopradhan stage. They too have to play their own parts in this. Each actor has his own strength. Important actors are very well known. Who is the CreatorDirector and principal Actor of this drama? You now understand that God, the Father, is the principal One. Then, there are the world mother and the world father; they become the masters of the world. Their parts are definitely elevated and so their pay too is very high. The Father, the most elevated One, pays them. He says: Since you help Me such a great deal, you will be paid accordingly. If a barrister taught you, he would say that he enabled you to claim a very high position. So, you children should pay a great deal of attention to this study. You also have to stay at home living with your families. They (sannyasis) have renunciation of karma yoga. Whilst living at home and carrying on with everything, you can also make effort to claim the inheritance from the Father. There is no difficulty in this. Whilst doing all your housework, you have to stay in remembrance of Shiv Baba. Knowledge is very easy. People call out: O Purifier, come! Come and purify us! There is a pure kingdom in the pure world and the Father is making you worthy of that kingdom. There are two main subjects in this knowledge: Alpha and beta. Spin the discus of self-realisation and remember the Father and you will thereby become everhealthy and wealthy. The Father says: Remember Me in the home. You must also remember the home. By remembering Me in the home, you will be able to go there. By spinning the discus of self-realisation, you become the rulers of the globe. You should keep all of these things very carefully in your intellects. At present, everyone is totally tamopradhan. In the land of happiness, you have peace, happiness and prosperity. There is only the one religion there. There is now peacelessness in every home. Just look how much chaos some students create! They demonstrate their new blood. This world is totally old and impure, whereas the golden age is the new, pure world. The Father has come at this confluence age. The Mahabharat War also takes place at this confluence age. This world now has to change. The Father says: I come at the confluence age to establish the new world. This is called the most auspicious confluence age. People celebrate the month of charity (purshottam, the most elevated) and the time of charity but none of them knows of this charitable, confluence age. The Father comes at this confluence age and makes you become like diamonds. You are also numberwise in this. The kings become like diamonds, whereas the subjects become like gold. As soon as a child takes birth, he has a right to his inheritance. You are now claiming your right to the pure, new world. However, you also have to make effort to claim a high status in that. The effort you make now will be the effort you make every cycle. It is understood when souls are unable to make any more effort than they do and that such souls will make the same effort every cycle. In every birth, and in every cycle, they will be among the subjects, or they will become maids or servants of the wealthy subjects. Everyone is numberwise, and everything about you can be known from how much each of you studies. Baba can tell you instantly what you would become if you were to leave your body now in your present state. Day by day, time is getting shorter. If any of you were to leave your body now, you would not be able to study again. Yes, something will enter your intellects and you will remember Shiv Baba, just as you remind a little child to remember Shiv Baba and he continues to say, “Shiv Baba, Shiv Baba”. That soul then receives something. A small child is said to be equal to a mahatma (great soul), because he knows nothing about vice. However, as he continues to grow up, he becomes influenced by the vices. There is anger or there is attachment. You are now being told that you have to finish all your attachment to whatever you can see with your physical eyes in this world. You souls know that the whole world is to turn into a graveyard. Everything is old and totally impure. When a person dies, all of his old belongings are given to a karnighor (special brahmin priest). The Father is the unlimited Karnighor. He is also the Laundryman. What does He take from you and what does He give you in return? Whatever little money you give to Baba would be destroyed anyway. Nevertheless, the Father says: Keep your money with you. Simply remove all of your attachment from it. Continue to give your accounts to the Father and you will continue to receive directions. The little that you have, which is only worth straws anyway, can be used for a university and hospital,for healthand wealthHospitals are for patients and universities are for students. This is both a hospital and a college combined. For this, you only need three square feet of land, that’s all! Those who have nothing else can simply give three square feet of land and hold a class there. Three square feet of land is simply somewhere large enough to sit. A seat is only three square feet. Anyone who comes to your three square feet of land should understand everything very clearly. Make anyone who comes sit down and give them the Father’s introduction. Many badges are also being made for service. This badge is very simple. The pictures are very good and the writing is also full of meaning. A lot of service can be done with these. Day by day, as calamities increase, people will have disinterest in the world and they will start to remember the Father. I, this soul, am imperishable and I have to remember my imperishable Father. The Father Himself says: Remember Me and the sins of your many births will be absolved. Consider yourself to be a soul and have full love for the Father. Do not become body conscious. Yes, you may have external love for your children etc., but let your true love be for the spiritual Father. Only by remembering Him will your sins be absolved. Whilst seeing your friends and relatives, your intellects should hang on the gallows of remembrance of the Father. It should be as though you children are hanging on the gallows of remembrance. Souls have to remember the Father, the Supreme Soul. Your intellects should hang up there. The Father’s home is up above. There is the incorporeal world, the subtle region and this corporeal world. Now that your journey is coming to an end, you will soon have to return home. You are now on the return journey to your home. Therefore, your home seems so attractive. That home is your unlimited abode. You do have to return to your own home. People do devotion in order to go back home. However, neither do they have full knowledge nor are they able to go back to that home. In order to attain God or go to the land of nirvana, they go on so many pilgrimages etc. They make so much effort. Sannyasis only show the way to peace; they know nothing about the land of happiness. Only the Father shows you the way to the land of happiness. First of all, you definitely have to go to the place beyond sound (nirvana), your stage of retirement. That place is also called Brahmand. They think that the brahm element is God. We souls are points and our place of residence is Brahmand. You are also worshipped in that form. How can they worship a point? In order to perform worship, they make a saligram of each soul and worship those. How else could a point be worshipped? This is why they create larger forms. The Father doesn’t have a body of His own. You now know these things. You also have to show larger images of souls in the pictures. What would people understand from seeing a point? Therefore, it’s better really to make a star. Some mothers also apply a tilak like that. You can get white, ready-made tilaks. A soul is also white, like a star. This tilak is a symbol of a soul that resides in the centre of the person’s forehead. However, no one knows the meaning of it. The Father explains how such a tiny soul has so much knowledge. So many bombs etc. are created. It is a wonder how souls have their parts recorded within them. These matters are very deep. Such a tiny soul is able to do so much through his body. Souls are imperishable. Neither are their parts destroyed, nor do their acts ever change. The tree is now huge whereas in the golden age it is very small. The sapling of the small, sweet tree is now being planted. You became impure and are now becoming pure. Such a tiny soul has such a large part recorded within him. This is nature. You continue to play your imperishable parts; it never stops. It is a wonder how souls are imperishable and how they are filled with imperishable parts. The Father explains: Children, you have to become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember the Father; there is effort in this. You souls have the biggest parts. Baba doesn’t have such a big part as you do. The Father says: When you are happy in heaven, I go and rest. I have no part to play at that time. It is at this time that I do so much service for you. This knowledge is so wonderful! No one but you knows about it. Unless you stay in remembrance of the Father, you cannot imbibe this. When you change your diet or food and drink, it makes a difference in how you imbibe this too. You must also remain very pure in this. It is very easy to remember the Father. You have to remember the Father and claim your inheritance. This is why the Baba has said: Keep the pictures with you. Create pictures of yoga and the inheritance and you will have the intoxication of changing from Brahmins into deities. Then, from deities, you will become warriors. You Brahmins are confluence aged. You are becoming elevated human beings. You have to make so much effort to inculcate these things into the intellects of people. Day by day, the more knowledge you understand, the happier you will be. You children know that Baba benefits you a great deal. You know that you have an ascending stage every cycle. You also have to do everything for the livelihood of your bodies, but your intellects should remember that you are eating from Shiv Baba’s bhandara. By you continuing to remember Shiv Baba, all your sorrows will be removed. You will shed your old bodies and return home. You children understand that Baba doesn’t take anything from you, because Baba is the Bestower. The Father says: Follow My shrimat! Pay full attention as to whom you give your money. If you give money to someone who then spends it on alcohol or performs some other bad act with it, the sin of that will fall on you. You became sinful souls by having your give and take with sinful souls. There is such a difference here! You have to become charitable souls here. Therefore, do not have any give and take with sinful souls. The Father says: You mustn’t cause anyone sorrow. You mustn’t have attachment to anyone. The Father comes to you as the Saccharine. Just look how much interest He pays you for all your old things worth straws that He takes. You receive a huge interest. He is so innocent! In return for two handfuls of rice He gives you a palace. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found, children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Now that your journey has come to an end, you have to return home. This is why you should have disinterest in this old world. Your intellect’s yoga must hang on the gallows of remembrance of the Father.
  2. In order to look after the sacrificial fire that the Father has created at the confluence age, you have to become true, pure Brahmins. Whatever you do, you have to stay in remembrance of the Father.
Blessing: May you be an easy yogi and become co-operative by using all your treasures to serve all souls.
The way to become an easy yogi is to consider yourself to be a server for all souls of the world through with all thoughts, words and acts and to use everything for service. Whatever treasures of powers, virtues, knowledge and time for earning an elevated income you have received from the Father in this Brahmin life, use them all for service, that is, be co-operative and you will become an easy yogi. However, only those who are full are able to be co-operative. So, to be co-operative means to be a great donor.
Slogan: Become one with unlimited disinterest and all sanskars of being attracted will easily finish.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Let the language of Brahmins among yourselves be filled with avyakt feelings. Never take into your thoughts or let others take into in their thoughts anyone’s mistakes that you may have heard about. Within the gathering, especially have an exchange of avyakt experiences.

TODAY MURLI 31 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 January 2019 :- Click Here

31/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become soul conscious and all your negative thoughts will end. You will not fear anything. You will become free from worry.
Question: In what way does the new tree grow and how?
Answer: The new tree grows very slowly, at the speed of a louse. This drama moves like a louse. In the same way, according to the drama, this tree grows slowly because you have to face great opposition from Maya. It takes effort for you children to become soul conscious. You would experience great happiness if you became soul conscious and there would also be expansion in service. Your boat goes across if you remember the Father and the inheritance.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children.The spiritual Father is the Immortal Image. The spiritual Father is called the Supreme Father, the Supreme Soul. You children are also immortal images. You can explain very well to the Sikhs. In fact, you can explain to those of any religion. The Father has also explained that this tree grows slowly. Just as the drama moves like a louse, in the same way the tree also grows at the speed of a louse. It takes a whole cycle for it to grow. This is now your new tree. You children exist throughout the whole cycle. You have been moving around the cycle for 5000 years. This cycle continues to move like a louse. Firstly, you have to understand about souls. This is a difficult aspect. The Father knows that, according to the drama, the tree grows gradually because there isopposition from Maya. At this time, it is her kingdom whereas later, even Ravan will not remain. You children first have to become soul conscious. Soul-conscious children do good service and they remain in great happiness. They do not have useless, negative thoughts in their intellect. It is as though you are gaining victory over Maya so that no one can shake you. There is the example of Angad. This is why you are also given the name mahavirs (Great Warriors). There is not a single mahavir now. You will become mahavirs later on and that too will be numberwise. Those who do good service will be placed in the line of mahavirs. You are now warriors and will later become great warriors. You should not have the slightest doubt. Many become very arrogant; they don’t care about anyone. You need to explain to others with great humility. You can serve the Sikhs in Amritsar. You only have to give the one message to everyone: By remembering the Father, the alloy in your soul will be removed. Those people say: Remember the Lord. There is also praise of the Sahib (Lord): The incorporeal One is the Truth, the Lord of Immortality. Now, who is the Immortal Image? They say: The Satguru is the immortal One. A soul is an immortal image. Death never comes to a soul. Souls have received parts. Therefore, they have to play their parts and so how could death come to a soul? Death can come to the body. A soul is an immortal image. You can go to the Sikhs and give a lecture, just as those who study the Gita give lectures. You children know that there is so much paraphernalia of the path of devotion. They don’t have the slightest knowledge. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. Human beings cannot be called knowledgeable. Deities too are human beings, but they have divine virtues which is why they are called deities. They too received their inheritance from the Father. You are becoming the masters of the world through this Raj Yoga. They say: The Satguru is the immortal One. Only that one Father is the Truth. He is the Purifier. You also have to give the introduction of the two fathers. If you get two minutes to give a talk, that is also a lot. Even if you get one minute or one second that is a lot. Those who were struck by the arrow in the previous cycle will be struck again. This is not a big thing. You simply have to give the message. Baba has explained: Just think: when Guru Nanak comes, he does not give a message and say, “You have to return home and so become pure for that.” Those pure souls come from up above. Their religions continue to expand. They continue to come down. In fact, no human being can be the Bestower of Salvation. Only the one Father is the Bestower of Salvation. Human beings are human beings and it is explained that they belong to such-and-such a religion. The Father has explained: Consider yourself to be a soul. Become pure. Guru Nanak said: He washes the dirty clothes. This was written later by those who wrote the scripture. At first, there were very few. What would they sit and relate to those few people? It is now that the Father gives you this knowledge and the scriptures are then written later on. There are no scriptures in the golden age. First, explain to them: Remember the Father and your sins will be absolved. Destruction definitely has to take place. Ask them: Whom do you call omnipresent? The One whom you praise as “Ek Omkar” is the Father. We, His children, are also immortal images. We each have our throne. We leave one throne and go and sit on another. We sit on 84 thrones. This is now the old world; there is so much chaos! These things do not exist in the new world. There, there is only one religion. The Father gives you the kingdom of the world. No one can attack you. The founders of religions come in the copper age to establish their own religions. Only when their religion increases and they come into power is war mentioned. There were very few of Islam at first. Your religion is established here. They come in the copper age. It is only at that time that their religion is established. Then, they continue to come down one after another. These matters have to be understood very well. According to the drama, some are not able to imbibe any of this. The Father explains that their status will definitely be low. This is not a curse. The rosary is created of those who are mahavirs (great warriors). According to the drama, not everyone can make the same effort. Even previously, they did not do this. They say: Why are we blamed? The Father also says: It is not your fault. What can the Father do if it is not in your fortune? He knows what status each and every one is worthy of receiving. Explain to the Sikhs: Remember the Sahib and you will receive peace and happiness. They receive happiness when their religion is established. Everyone has now come down. You believe that the Satguru is the immortal One. So, whom do you call a guru? There is only one Guru who grants salvation. Many gurus are needed to teach devotion. There is only one Father who teaches knowledge. You mothers can explain to them: You wear a bracelet which is a symbol of purity. They will believe you mothers, because you are the ones who will open the gates to heaven. You mothers have now received the urn of knowledge through which there is to be salvation for everyone. You children now call yourselves mahavirs. You can tell them: We live at home with our families and are establishing the golden age. There is the difference of day and night. Those locks of hair are also a symbol of purity. You have to complete the praise of the Father, the Purifier, the immortal Image. Sages and sannyasis say: We bow down to God. Then they say: He is omnipresent. That is wrong. You should sing a great deal of praise of the Father. You go across with the Father’s praise. There is the story: By saying, “Rama, Rama”, your boat goes across. The Father also says: By remembering the Father, you will go across the ocean of poison. You all have to go into liberation. You can go to Amritsar and give a lecture. You call out: The incorporeal One is the Truth, the Immortal Image. However, He now says: Renounce your bodies and all bodily religions and consider yourselves to be souls. Remember the Father and your sins will be burnt away. Your final thoughts will lead you to your destination. Shiv Baba is the incorporeal One, the Immortal Image. You souls are also incorporeal. The Father says: I don’t have a body. I take one on loan. I come into the impure world in order to conquer Ravan. It is here that I give directions, because impure ones exist in the old world. There is only the one deity religion in the new world. At that time, everyone else remains in the land of peace. Then, they all pass through the stages of sato, rajo and tamo numberwise. Those who receive a great deal of happiness also receive a great deal of sorrow. You have to give the Father’s message to everyone: Remember the Father and you will be able to reach home. Everyone receives salvation when the tree becomes full, when everyone has come down. You too can explain to anyone in this way with a lot of love and patience. You don’t even need to use any pictures. In fact, the pictures are for new ones. You can explain to those of any religion. However, some children don’t have enough yoga for the arrow to strike the target. They say: Baba, I was defeated. Maya makes their face completely ugly. They don’t even realize that they were deities. They have now become devilish. Now, Baba says: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Continue to give the Father’s message to everyone. Write on the slides of the bioscope: The Trimurti, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You will attain liberation and liberation-in-life. You have to give everyone the message. Slides should also be created with which you can give everyone the mantra of “Manmanabhav” which disciplines the mind. This study doesn’t take long. As you go further, everyone will come to understand. There is nothing to worry about. You have to become free from worry. Just look, human beings are so afraid of death. Here, there is no question of fear. You also say that death should not come now. We have not yet completed our examination. We have not yet completed our pilgrimage and so, why should we renounce these bodies? You should say such sweet things to the Father. It will instill a very good habit in you. You should come here and sit in front of the pictures. You know that you receive the kingdom of the world from Baba. Therefore, you should remember such a Father a great deal. If you don’t remember Him, a lot of punishment will have to be endured. Baba remembers firmly that he is going to become this. Therefore, he experiences a lot of happiness that this is what he is to become. Simply by seeing it, his intoxication rises. You also have to become this. Baba, I will remember You and will definitely become this. If you don’t have anything else to do, then come and sit in front of these pictures. We receive this inheritance from the Father. Make this very firm. This method is no less. However, if it is not in your fortune, you don’t have remembrance. Baba says: Practi s e this a great deal when you come here. Then, whatever bad omens there are, they will be removed. You should also think about the picture of the ladder. However, if it is not in your fortune, you will not be able to follow shrimat. Baba shows you the way and Maya interferes. Baba shows you many wise methods. Continue to remember the Father and the inheritance. He says: Ask the gopes and the gopis, those who have the faith that they will definitely claim their inheritance from the Father, about supersensuous joy. Baba establishes heaven and makes us into the masters of that. The pictures have also been made in this way. You prove to them what the relationship between Brahma and Vishnu is. No one else knows this. People become confused on seeing the picture of Brahma. It takes time for establishment to take place. It also takes time to reach the karmateet stage. You repeatedly forget. You should instill this habit. Even those who do intense devotion go and sit in front of the images and hope to get a vision. You are becoming those and so you should remember this. You also have a badge. Baba gives his own example of how he had a lot of love for the idol of Narayan. All of that was the path of devotion. The Father now says: Remember Me alone and do not do anything else. Baba says: I am your obedient S ervant. Why do you bow your head in front of Me? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe the virtue of humility. You should not have the slightest arrogance. You should become such mahavirs that Maya cannot shake you.
  2. Give everyone the mantra of “Manmanabhav” which disciplines the mind. Relate knowledge to everyone with a lot of love and patience. Give the Father’s message to those of all religions.
Blessing: May you be a master almighty authority who puts every elevated thought into practice.
master almighty authority means one whose thoughts and deeds are the same. If your thoughts are very elevated but your deeds are not according to your thoughts, you cannot then be called a master almighty authority. So, check whether the elevated thoughts you have are put into practice or not. The sign of a master almighty authority is that he will be able to use the particular power that is needed at that particular moment. Let your physical and subtle powers be under such control that you are able to use the particular power you need at that very moment.
Slogan: When knowledge-full souls have anger in them, they defame the Father’s name.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Be a destroyer of obstacles, unshakeable and immovable, the same as Father Brahma and overcome all obstacles. Experience the obstacles not as obstacles, but as a game. Experience mountains to be like mustard seeds because knowledge-full souls know in advance that all of these things are going to come and happen. So, never become confused in the questions of “what?” or “why?”

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 January 2019

To Read Murli 30 January 2019 :- Click Here
31-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देही-अभिमानी बनो तो विकल्प समाप्त हो जायेंगे, किसी भी बात से डर नहीं लगेगा, तुम फिकर से फ़ारिग हो जायेंगे।”
प्रश्नः- नये झाड़ की वृद्धि किस तरह से होती है और क्यों?
उत्तर:- नये झाड़ की वृद्धि बहुत धीरे-धीरे और जूँ मिसल होती है। जैसे ड्रामा जूँ मिसल चल रहा है, ऐसे ड्रामा अनुसार यह झाड़ भी धीरे-धीरे वृद्धि को पाता है क्योंकि इसमें माया का मुकाबला भी बहुत करना पड़ता है। बच्चों को देही-अभिमानी बनने में मेहनत लगती है। देही-अभिमानी बनें तो बहुत खुशी रहे। सर्विस में भी वृद्धि हो। बाप और वर्से की याद रहे तो बेड़ा पार हो जाए।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। रूहानी बाप भी अकालमूर्त है। रूहानी बाप कहा जाता है परमपिता परमात्मा को। तुम बच्चे भी अकालमूर्त हो। तुम सिक्ख लोगों को भी अच्छी तरह से समझा सकते हो। यूँ तो कोई भी धर्म वालों को समझा सकते हो। यह भी बाप ने बताया है कि यह झाड़ धीरे-धीरे बढ़ता है। जैसे ड्रामा जूँ मिसल चलता है वैसे झाड़ भी जूँ मिसल बढ़ता है। पूरा कल्प लगता है बढ़ने में। अभी तुम्हारा यह नया झाड़ है, तुम बच्चों की भी कल्प की आयु हो जाती है। 5 हज़ार वर्ष से तुम चक्र लगाते हो, जूँ मिसल यह चक्र चलता है। पहले-पहले तो आत्मा को समझना है। यही डिफीकल्ट बात है। बाप जानते हैं ड्रामा अनुसार आहिस्ते-आहिस्ते झाड़ बढ़ता है क्योंकि माया का मुकाबला होता है, इस समय उसका राज्य है फिर तो रावण ही नहीं रहता। तुम बच्चों को पहले देही-अभिमानी बनना है। देही-अभिमानी बच्चे सर्विस बहुत अच्छी करेंगे और बहुत खुशी में भी रहेंगे। बुद्धि में फालतू विकल्प नहीं आयेंगे। गोया तुम माया पर जीत पाते हो तो फिर तुमको कोई हिला न सके। अंगद का भी दृष्टान्त है ना, इसलिए तुम्हारा महावीर नाम रखा है। अभी तो एक भी महावीर नहीं। महावीर पिछाड़ी में बनेंगे, सो भी नम्बरवार। जो अच्छी सर्विस करते हैं उनको महावीर की लाइन में रखेंगे। अभी वीर हैं, महावीर पिछाड़ी में होंगे। जरा भी कोई संशय नहीं आना चाहिए। कोई तो बहुत अहंकार में आ जाते हैं। कोई की भी परवाह नहीं करते। इसमें तो बड़ी निर्माणता से कोई को समझाना होता है। अमृतसर में सिक्खों की तुम सर्विस कर सकते हो। सन्देश तो सबको एक ही देना है। बाप को याद करने से तुम्हारी आत्मा की कट उतर जायेगी। वो लोग कहते हैं जप साहेब को.. साहेब की महिमा भी है। एकोअंकार सत नाम, अकाल मूर्त। अब अकालमूर्त कौन? कहते हैं सतगुरू अकाल। अकालमूर्त तो आत्मा है ना। उनको कभी काल खा न सके। आत्मा को तो पार्ट मिला हुआ है, सो तो पार्ट बजाना ही है। उनको काल खायेगा कैसे। शरीर को खा सकता है। आत्मा तो अकाल मूर्त है। तुम सिक्खों के पास जाकर भाषण कर सकते हो। जैसे गीता वाले भी भाषण करते हैं। तुम बच्चे जानते हो भक्ति मार्ग की तो अथाह सामग्री है। ज्ञान जरा भी नहीं। ज्ञान का सागर है ही एक बाप। मनुष्य को ज्ञानवान नहीं कहा जायेगा। देवतायें भी तो मनुष्य हैं ना। परन्तु दैवीगुण हैं इसलिए देवता कहा जाता है। उन्हों को भी बाप से ही वर्सा मिला था। तुम भी इस राजयोग से विश्व के मालिक बन रहे हो। सतगुरू अकाल कहते हैं ना। सत्य तो वह एक ही बाप है। वही पतित-पावन है। दो बाप का भी परिचय देना है। तुमको भाषण के लिए दो मिनट मिलें तो भी बहुत है। एक मिनट एक सेकेण्ड मिले तो भी बहुत है। जिनको कल्प पहले तीर लगा होगा उनको ही लगेगा, कोई बड़ी बात नहीं। सिर्फ पैगाम देना है। बाबा ने समझाया है – समझो गुरूनानक आता है तो वह कोई मैसेज नहीं देते कि तुमको वापिस घर चलना है, उसके लिए पवित्र बनो। वह तो पवित्र आत्मायें ऊपर से आती हैं। उनके धर्म की वृद्धि होती है, आते रहते हैं। वास्तव में सद्गति दाता कोई मनुष्य हो नहीं सकता। सद्गति दाता एक बाप है। मनुष्य तो मनुष्य ही हैं फिर समझाया जाता है फलाने धर्म का है। बाप ने समझाया है तुम अपने को आत्मा समझो, पवित्र बनो, गुरूनानक ने कहा है मूत पलीती कपड़ धोए.. यह भी पीछे शास्त्र बनाने वालों ने लिखा है। पहले तो बहुत थोड़े होते हैं। उनको क्या बैठ सुनायेंगे। यह ज्ञान भी बाप तुमको अभी देते हैं फिर शास्त्र तो पिछाड़ी में बनते हैं। सतयुग में तो शास्त्र होते नहीं। पहले तो समझाना है बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। विनाश तो होना ही है। पूछना चाहिए सर्वव्यापी किसको कहते हो जिसकी यह महिमा गाते हो एकोअंकार..वह तो बाप ठहरा ना। उनके बच्चे हम आत्मायें भी अकालमूर्त हैं। हमारा तख्त यह है। हम एक तख्त छोड़ दूसरे पर बैठे हैं। 84 तख्त पर बैठते हैं। अभी यह है पुरानी दुनिया, कितने हंगामे हैं। नई दुनिया में यह बातें हो न सके। वहाँ तो एक ही धर्म होता है। बाप तुमको विश्व की बादशाही दे देते हैं। तुम्हारे पर कोई चढ़ाई नहीं कर सकते। द्वापर से धर्म स्थापक आते हैं अपने-अपने धर्म की स्थापना करने। उनका धर्म जब वृद्धि को पाये, ताकत में आये तब लड़ाई की बात हो। इस्लामी पहले कितने थोड़े होंगे। तुम्हारा धर्म तो यहाँ स्थापन होता है। वह आते ही द्वापर में हैं। उस समय ही धर्म स्थापन होता है। फिर एक दो के पिछाड़ी आते जायेंगे। यह बड़ी समझने की बातें हैं। कोई तो ड्रामा अनुसार कुछ भी धारण नहीं कर सकते हैं। बाप समझाते हैं ज़रूर उनका पद कम होगा। यह कोई श्राप नहीं है। माला तो महावीरों की बनती है। ड्रामा अनुसार सभी एक जैसा पुरुषार्थ तो कर नहीं सकते। आगे भी नहीं किया होगा। कहेंगे फिर हमारा क्या दोष है। बाप भी कहते हैं तुम्हारा कोई दोष नहीं। तकदीर में नहीं है तो बाप क्या कर सकते। समझ सकते हैं कौन-कौन किस पद के लायक हैं। सिक्खों को भी समझाना है कि साहेब को जपो तो सुख-शान्ति मिले। उनको सुख तब मिलता है जब उनके धर्म की स्थापना होती है। अब तो सब नीचे आ चुके हैं। तुम मानते हो सतगुरू अकाल.. फिर गुरू किसको कहते हो? सद्गति देने वाला गुरू एक है। भक्ति सिखलाने वाले तो ढेर गुरू चाहिए। ज्ञान सिखलाने वाला एक बाप है। तो तुम मातायें उनको समझाओ कि यह कंगन तुम जो पहनते हो ये भी पवित्रता की निशानी है। तुम्हारा वह मान लेंगे क्योंकि तुम मातायें ही स्वर्ग का द्वार खोलने वाली हो। तुम माताओं को अभी ज्ञान का कलष मिला है जिससे सबकी सद्गति हो जाती है।

तुम बच्चे अभी अपने को महावीर कहलाते हो। तुम कह सकते हो हम गृहस्थ व्यवहार में रह स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। रात दिन का फर्क है। यह जटायें भी पवित्रता की निशानी हैं। अकालमूर्त पतित-पावन बाप की महिमा पूरी करनी चाहिए। साधू सन्यासी परमात्मा नम: कहते हैं फिर कहते हैं सर्वव्यापी है। यह है रांग। बाप की तुम खूब महिमा करो। बाप की महिमा से तुम तर जाते हो। जैसे कहानी है राम-राम कहने से पार हो जायेंगे। बाप भी कहते हैं बाप को याद करने से विषय सागर से पार हो जायेंगे। तुम सबको मुक्ति में जाना ही है। तुम अमृतसर में जाकर भाषण करो कि तुम पुकारते हो सतगुरू अकालमूर्त..परन्तु वह अब कहते हैं देह सहित देह के सब धर्मों को छोड़ अपने को आत्मा समझो। बाप को याद करो तो पाप भस्म हो जायेंगे। अन्त मती सो गति हो जायेगी। शिवबाबा अकालमूर्त, निराकार है। तुम आत्मा भी निराकार हो। बाप कहते हैं मेरा शरीर तो है नहीं। मैं लोन लेता हूँ। मैं आता ही पतित दुनिया में हूँ – रावण पर जीत पाने। यहाँ ही डायरेक्शन दूँगा क्योंकि पतित होते ही पुरानी दुनिया में हैं। नई दुनिया में एक ही देवी देवता धर्म था, उस समय और सब शान्तिधाम में रहते हैं। फिर नम्बरवार सतो रजो तमो में आते हैं। जिनको सुख बहुत मिलता है, उनको दु:ख भी बहुत मिलता है।

तुम्हें सबको बाप का पैगाम देना है कि बाप को याद करो तो घर पहुँच जायेंगे। सद्गति सबकी तब होती है जब झाड़ पूरा होता है, सब आ जाते हैं। ऐसे तुम भी किसी को बहुत प्यार और धीरज से समझाओ। तुमको चित्र उठाने की भी दरकार नहीं है। वास्तव में चित्र हैं नयों के लिए। तुम कोई भी धर्म वालों को समझा सकते हो। परन्तु बच्चों में इतना योग नहीं जो तीर लगे। कहते हैं बाबा हम हार खा लेते हैं। माया एकदम काला मुँह करा देती है, उनको यह पता ही नहीं पड़ता है कि हम देवता थे। इस समय असुर बन पड़े हैं।

अब बाबा कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप का पैगाम सबको देते रहो। बाइसकोप के स्लाइड्स पर भी लिखो कि त्रिमूर्ति परमपिता परमात्मा शिव कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम मुक्ति जीवनमुक्ति पा लेंगे। पैगाम तो सबको देना है ना। स्लाइड्स भी बन जाना चाहिए। इसमें यह जैसे एक वशीकरण मंत्र मनमनाभव का सबको दो। इस पढ़ाई में देरी नहीं लगती। आगे चलकर सब समझेंगे। कोई फिकर की बात नहीं। फिकर से रहित तो होना ही है। मनुष्य देखो – मौत से कितना डरते हैं। यहाँ डरने की तो बात ही नहीं। तुम तो कहेंगे अभी मौत न आये। अभी हमने इम्तहान ही पूरा कहाँ किया है। अभी यात्रा पूरी नहीं की है तो शरीर क्यों छूटना चाहिए। ऐसे मीठी-मीठी बातें बाप से करनी है। बहुत अच्छी टेव (आदत) पड़ जायेगी। यहाँ चित्र के आगे आकर बैठ जाओ। तुम जानते हो हमको बाबा से विश्व की राजाई मिलती है। तो ऐसे बाप को बहुत याद करना चाहिए ना। याद नहीं करेंगे तो सजायें भोगनी पड़ेगी। बाबा को तो याद पड़ गया है कि हम यह बनने वाले हैं। तो बहुत खुशी होती है कि हम यह बनेंगे। देखने से ही नशा चढ़ जाता है। तुमको भी यह बनना है। बाबा हम आपको याद कर ऐसे बनेंगे ज़रूर। और कोई काम नहीं है तो यहाँ चित्रों के सामने आकर बैठ जाओ। बाप द्वारा हमको यह वर्सा मिलता है। यह पक्का कर दो। यह युक्ति कम नहीं है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो याद नहीं करते। बाबा कहते हैं यहाँ आते हो तो बहुत प्रैक्टिस करो। तो जो कुछ ग्रहचारी होगी वह उतर जायेगी। सीढ़ी के चित्र पर यह विचार करो। परन्तु तकदीर में नहीं है तो श्रीमत पर चल नहीं सकते। बाबा रास्ता बताते हैं माया काट देती है। बाबा युक्तियाँ बहुत बतलाते हैं। बाप और वर्से को याद करते रहो। कहते हैं अतीन्द्रिय सुख गोप गोपियों से पूछो, जिनको निश्चय है कि हम बाप से वर्सा ज़रूर लेंगे। बाबा स्वर्ग की स्थापना कर हमें उसका मालिक बनाते हैं। चित्र भी ऐसे बने हुए हैं। तुम सिद्ध कर बताते हो कि ब्रह्मा, विष्णु का क्या सम्बन्ध है। और किसको भी पता नहीं, ब्रह्मा का चित्र देख मूँझ जाते हैं। स्थापना में टाइम ज़रूर लगता है, कर्मातीत अवस्था में भी टाइम लगता है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। यह आदत डालनी चाहिए। नौधा भक्ति वाले भी चित्र के आगे बैठ जाते हैं – हमको दीदार हो। तुम तो यह बनते हो तो तुमको याद करना चाहिए। बैज भी तुम्हारे पास है। बाबा अपना भक्ति मार्ग का मिसाल बताते हैं कि नारायण की मूर्ति से मेरा बहुत प्यार था। वह सब था भक्ति मार्ग। अब बाप कहते मामेकम् याद करो और कुछ भी नहीं करना है। बाबा कहते हैं हम तो ओबीडियन्ट सर्वेंन्ट हैं। हमें तुम माथा क्यों टेकते हो। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) निर्माणता का गुण धारण करना है। ज़रा भी अहंकार में नहीं आना है। ऐसा महावीर बनना है जो माया हिला न सके।

2) सभी को मनमनाभव का वशीकरण मंत्र सुनाना है। बहुत प्यार और धीरज से सबको ज्ञान की बातें सुनानी है। बाप का पैगाम सब धर्म वालों को देना है।

वरदान:- हर श्रेष्ठ संकल्प को कर्म में लाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान भव
मास्टर सर्वशक्तिमान माना संकल्प और कर्म समान हो। अगर संकल्प बहुत श्रेष्ठ हो और कर्म संकल्प प्रमाण न हो तो मास्टर सर्वशक्तिमान नहीं कहेंगे। तो चेक करो जो श्रेष्ठ संकल्प करते हैं वो कर्म तक आते हैं या नहीं। मास्टर सर्वशक्तिमान की निशानी है कि जो शक्ति जिस समय आवश्यक हो वो शक्ति कार्य में आये। स्थूल और सूक्ष्म सब शक्तियां इतना कन्ट्रोल में हो जो जिस समय जिस शक्ति की आवश्यकता हो उसे काम में लगा सकें।
स्लोगन:- ज्ञानी तू आत्मा बच्चों में क्रोध है तो इससे बाप के नाम की ग्लानी होती है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान विघ्न-विनाशक, अचल अडोल बन हर विघ्न को पार कर लो। ऐसे अनुभव करो जैसे यह विघ्न नहीं एक खेल है। पहाड़ राई के समान अनुभव हो क्योंकि नॉलेजफुल आत्मायें पहले से ही जानती हैं कि यह सब तो आना ही है, होना ही है। कभी क्यों, क्या के प्रश्नों में उलझना नहीं।

Font Resize