daily murli 31 august

TODAY MURLI 31 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 August 2020

31/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remain honest with the Father. Keep your charthonest. Never cause anyone sorrow. Continue to follow the elevated directions of the one Father.
Question: What effort do those who take the full 84 births make?
Answer: They make the special effort to change from an ordinary human into Narayan, to have total control over their physical senses; their eyes never become criminal. If, even now, there are vicious thoughts on seeing someone and the eyes become criminal, you can understand that the soul is not one who takes the full 84 births.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. You sweetest, spiritual children know that this is the world of sin. Human beings also know about the world of charity. The pure, charitable world is called liberation and liberation-in-life. There is no sin there. Sin only exists in the land of sorrow, in the kingdom of Ravan. You have seen Ravan, the one who causes sorrow. Ravan is not a person and yet they burn his effigy. You children know that, at this time, you are in the kingdom of Ravan, but that you have stepped away from it. We are now at the most elevated confluence age. When you children are coming here, it is in your intellects that you are going to the Father who will change you from humans into deities. He makes you into the masters of the land of happiness. It is not Brahma or any bodily being who is making you into the masters of the land of happiness. It is Shiv Baba, who does not have a body of His own, who does this. You too didn’t have bodies, but then you took bodies and entered the cycle of birth and death. You understand that you are going to your unlimited Father. He is giving us elevated directions. By making such effort you will become the masters of heaven. Everyone remembers heaven. They understand that there definitely is a new world. There is definitely someone who has to establish it. Even hell has to be established by someone. You know when the parts you play in the land of happiness come to an end; you begin to experience sorrow because the kingdom of Ravan starts. At present, this is the land of sorrow. No matter how many millionaires or billionaires there are, the world is definitely said to be impure. This is the poverty-stricken world of sorrow. No matter how many big buildings and facilities for happiness someone has, this world is still called old and impure. They continue to flounder in the river of poison. They don’t even understand that it is a sin to indulge in vice. They say: How could the world continue without this? They call out: O God, O Purifier, come and purify this impure world! It is souls that say this through their bodies. It is souls that have become impure and this is why they call out. Not a single being in heaven is impure. You children know that those who make effort well at the confluence age are the ones who understand that they have taken the full 84 births. They will then rule with Lakshmi and Narayan in the golden age. It isn’t just one who has taken 84 births. Together with the king, there also have to be subjects. It is also numberwise amongst you Brahmins. Some become kings and queens and others become subjects. The Father says: Children, it is now that you have to imbibe divine virtues. These eyes are criminal. If, on seeing another person, someone’s vision is impure, it could be said that he doesn’t take 84 births. Such ones cannot change from humans into Narayan. You will reach your karmateet stage when you gain victory over your eyes. Everything depends on the eyes. It is the eyes that deceive you. Each soul sees through these windows of his. There are double (two) souls in this one. Even the Father sees through these windows (eyes). My vision also goes towards souls. The Father explains to souls. He says: I too have taken a body and this is why I am able to speak. You know that Baba is taking you to the world of happiness. This is the kingdom of Ravan. You have stepped away from this impure world. Some have moved forward a great deal whereas others have stepped backwards. Each one says: Take me across. You will go across to the golden age, but if you want to claim a high status there, you do have to become pure; you have to make effort. The main thing in this is to remember the Father so that your sins are absolved. This is the first subject. You know that you souls are actors. First, we went to the land of happiness, and we are now in the land of sorrow. The Father has now come to take us to the land of happiness. He says: Remember Me and become pure. Never cause anyone sorrow. People continue to cause a lot of sorrow for one another. Some have an evil spirit of lust, and others anger and some even begin to use their hands. The Father says: That is a sinful soul who causes sorrow for others. How can you become a charitable soul if you still continue to commit sin? That one is defaming the name of the clan. What would everyone say? You say that God is teaching you, that you are changing from humans into deities and becoming the masters of the world and yet you do such work! This is why Baba says: Look at yourself every night. If you are an obedient child, send your chart to Baba. Some do write their charts, but they don’t write whether they caused anyone sorrow or made a mistake. It is not right if you continue to remember the Father and also continue to perform wrong actions. Wrong actions are performed when you become body conscious. Look how the cycle turns. It is very easy. Some can become a teacher in just one day. The Father is explaining to you the secrets of 84 births; He is teaching you. You then have to go and churn it. How did we take 84 births? Some imbibe divine virtues more than the teacher who teaches them. Baba can prove this to you. Some bring their chart to Baba and say: Baba, look at my chart. I haven’t caused anyone the slightest sorrow. Baba says: This child is very sweet; he gives a very good fragrance. It is only a matter of a second to become a teacher. Some students go ahead of their teachers on the pilgrimage of remembrance. Therefore, they claim a higher status than the teacher’s. Baba asks: Whom are you teaching? Go to the temples of Shiva every day and teach them there about how Shiv Baba comes and carries out the establishment of heaven and how He is making us into the masters of heaven. It is very easy to explain this. Some write their charts and send them to Baba: Baba, my stage is like this. Baba asks: Children, you haven’t performed any sinful action, have you? The criminal eyes aren’t making you perform wrong actions, are they? You have to examine your own manners and character. Your behaviour and activity all depend on the eyes. Eyes deceive you in many ways. If you pick something up and eat it without permission, that is a sin, because you took it without anyone’s permission. There are many rules here. This is Shiv Baba’s sacrificial fire. No one may eat anything without asking permission from the person in charge. If one starts to do this, others will also start to do it. In fact, there should be no need to keep anything locked up here. The law says that no one impure should come into the kitchen of this building. Outside, it is not a question of whether someone is pure or impure. However, they do call themselves impure; all are impure. No one is allowed to touch the Vallabhacharis or the Shankaracharyas because they consider themselves to be pure and everyone else impure. Although everyone’s body here is impure, each of you renounces the vices according to the efforts you make. Vicious ones bow down in front of the idols of those who were viceless. It is said: “This one is a very pure and righteous soul”. There are no impure beings in the golden age; that is the pure world. There is only one category there. You know all of these secrets. The secrets from the beginning through the middle to the end of the world should remain in your intellects. We now know everything. There is nothing left to know. We know the Father, the Creator; we know about the subtle region; we know our future status for which we are making effort. However, if your behaviour becomes spoilt, you cannot claim a high status. To cause sorrow for someone, to indulge in vice, to have impure vision, are all sins. It takes a great deal of effort to change your vision. Your vision has to be very good. When your eyes see that someone is becoming angry, you too start fighting. There isn’t the slightest love for Shiv Baba and you don’t remember Shiv Baba at all. It is the greatness of Shiv Baba, it is the greatness of the Guru and it is the greatness of the Satguru that enabled you to have a vision of Govinda, Shri Krishna. It is the Guru who makes you become like Govinda. Your mouth is not sweetened just by having a vision. Meera had a vision, but was her mouth sweetened? She didn’t really go to heaven. That is the path of devotion; that cannot be called the happiness of heaven. It isn’t just a question of seeing Govinda, but of becoming like him. You have come here to become just like that. You should have the intoxication that you have come to Him and that He is making you become like that (Krishna). Therefore, Baba advises everyone: Write this in your chart: Did my eyes deceive me? Did I commit sin? The eyes definitely deceive you in one way or another. The eyes must become completely cool. Consider yourself to be bodiless. The karmateet stage will be reached at the end, but, that too, only when you send your chart to Baba. Everything automatically accumulates in the register of Dharamraj, but even the corporeal form has to know everything so that He can caution you because the Father has come into the corporeal form here. Someone with criminal eyes or who has body consciousness will make the atmosphere impure. Even while sitting here, your intellect’s yoga goes outside. Maya deceives you a great deal. The mind is very mischievous. You have to make so much effort in order to become this. When you souls come to Baba, He decorates you with knowledge. You souls know that you will become pure with knowledge. You will then also receive pure bodies. Both, souls and bodies, will be pure in the golden age. Then, after half the cycle, it will become the kingdom of Ravan. People ask: Why did God do this? However, this is eternally predestined in the drama. God didn’t do anything. In the golden age there is just the one deity religion. Some say: Why should I remember such a God? However, you don’t have any connection with any other religion. Those who have become thorns will come and become flowers. Some people ask: Does God only take the people of Bharat to heaven? We don’t accept that. Does God discriminate in this way? However, this is predestined in the drama. If everyone were to go to heaven, how would the part of innumerable religions continue? There aren’t those billions of souls in heaven. First of all, understand the main thing and that is: Who God is. If they haven’t understood that, they continue to ask many questions. If they consider themselves to be souls, they say that what you are saying is right. We definitely want to become pure from impure. You have to remember that One. People of all religions remember God. You children are now receiving this knowledge. You understand how the world cycle turns. You even explain so much at the exhibitions, and yet very few emerge. However, that doesn’t mean that you shouldn’t hold any more exhibitions. It was in the drama and you did it. Sometimes, souls do emerge at exhibitions and sometimes they don’t. As you make progress, many will come and begin to make effort to claim a high status. Someone who is going to claim a low status will not make that much effort. The Father still explains to the children: Don’t commit any sinful actions. Note down whether you caused anyone sorrow. Did I fight or quarrel with anyone? Did I say something wrong to someone? Did I do anything that was not right? Baba says: Write down the sinful action you committed. You know that you have been committing sins from the copper age and have therefore become sinful souls. When you give it to Baba in writing, the burden can be lightened. Some write: I don’t cause anyone any sorrow. Baba says: Achcha, bring your chart and I will have a look at it. Baba will call you because He wants to see such good children. Baba gives a lot of love to worthy, obedient children. Baba knows that no one has become perfect yet. Baba sees the effort that each of you makes. When children don’t write their charts, there must definitely be some weakness which they are hiding from Baba. Baba only considers someone to be a really honest child if he writes his chart. However, together with the chartmanners are also needed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to lighten your burden, tell the Father in writing the sins you have committed. Don’t cause anyone sorrow now. Remain an obedient child.
  2. Make your vision very good. Be very careful that your eyes don’t deceive you. Keep your manners very good. Do not perform any sinful actions under the influence of lust or anger.
Blessing: May you be an intense effort-maker who does not think about the past but puts a full stop.
Put a full stop to whatever has happened until now. Not to think about the past is to make intense effort. If anyone thinks about the past, his time, energy and thoughts are all wasted. Now is not the time to have any waste because if even two moments of the confluence age, that is, if even two seconds of the confluence age are wasted, you have then wasted many years. So, know the importance of time and put a ­full stop to the past. To put a full stop means to become full of all treasures.
Slogan: When every thought is elevated there will then be benefit for the self and for the world.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

31-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप से ऑनेस्ट रहो, अपना सच्चा-सच्चा चार्ट रखो, किसी को भी दु:ख न दो, एक बाप की श्रेष्ठ मत पर चलते रहो”
प्रश्नः- जो पूरे 84 जन्म लेने वाले है, उनका पुरुषार्थ क्या होगा?
उत्तर:- उनका विशेष पुरुषार्थ नर से नारायण बनने का होगा। अपनी कर्मेन्द्रियों पर उनका पूरा कन्ट्रोल होगा। उनकी आंखें क्रिमिनल नहीं होगी। अगर अब तक भी किसी को देखने से विकारी ख्यालात आते हैं, क्रिमिनल आई होती है तो समझो पूरे 84 जन्म लेने वाली आत्मा नहीं है।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे जानते हैं कि यह पाप की दुनिया है। पुण्य की दुनिया को भी मनुष्य जानते हैं। मुक्ति और जीवनमुक्ति पुण्य की दुनिया को कहा जाता है। वहाँ पाप होता नहीं। पाप होता है दु:खधाम रावण राज्य में। दु:ख देने वाले रावण को भी देखा है, रावण कोई चीज़ नहीं है फिर भी एफीजी जलाते हैं। बच्चे जानते हैं हम इस समय रावण राज्य में हैं, परन्तु किनारा किया हुआ है। हम अभी पुरुषोत्तम संगमयुग पर हैं। बच्चे जब यहाँ आते हैं तो बुद्धि में यह है – हम उस बाप के पास जाते हैं जो हमको मनुष्य से देवता बनाते हैं। सुखधाम का मालिक बनाते हैं। सुखधाम का मालिक बनाने वाला कोई ब्रह्मा नहीं है, कोई भी देहधारी नहीं है। वह है ही शिवबाबा, जिसको देह नहीं है। देह तुमको भी नहीं थी, परन्तु तुम फिर देह लेकर जन्म-मरण में आते हो तो तुम समझते हो हम बेहद के बाप पास जाते हैं। वह हमको श्रेष्ठ मत देते हैं। तुम ऐसा पुरुषार्थ करने से स्वर्ग का मालिक बन सकेंगे। स्वर्ग को तो सब याद करते हैं। समझते हैं नई दुनिया जरूर है। वह भी जरूर कोई स्थापन करने वाला है। नर्क भी कोई स्थापन करते हैं। तुम्हारा सुखधाम का पार्ट कब पूरा होता है, वह भी तुम जानते हो। फिर रावण राज्य में तुम दु:खी होने लगते हो। इस समय यह है दु:खधाम। भल कितने भी करोड़पति, पदमपति हो परन्तु पतित दुनिया तो जरूर कहेंगे ना। यह कंगाल दुनिया, दु:खी दुनिया है। भल कितने भी बड़े-बड़े मकान हैं, सुख के सब साधन हैं तो भी कहेंगे पतित पुरानी दुनिया है। विषय वैतरणी नदी में गोता खाते रहते हैं। यह भी नहीं समझते कि विकार में जाना पाप है। कहते हैं इसके बिगर सृष्टि वृद्धि को कैसे पायेगी। बुलाते भी हैं – हे भगवान, हे पतित-पावन आकर इस पतित दुनिया को पावन बनाओ। आत्मा कहती है शरीर द्वारा। आत्मा ही पतित बनी है तब तो पुकारती है। स्वर्ग में एक भी पतित होता नहीं।

तुम बच्चे जानते हो कि संगमयुग पर जो अच्छे पुरुषार्थी हैं वही समझते हैं कि हमने 84 जन्म लिए हैं फिर इन लक्ष्मी-नारायण के साथ ही हम सतयुग में राज्य करेंगे। एक ने तो 84 जन्म नहीं लिया है ना। राजा के साथ प्रजा भी चाहिए। तुम ब्राह्मणों में भी नम्बरवार हैं। कोई राजा-रानी बनते हैं, कोई प्रजा। बाप कहते हैं बच्चे अभी ही तुम्हें दैवीगुण धारण करने हैं। यह आंखें क्रिमिनल हैं, कोई को देखने से विकार की दृष्टि जाती है तो उनके 84 जन्म नहीं होंगे। वह नर से नारायण बन नहीं सकेंगे। जब इन आंखों पर जीत पा लेंगे तब कर्मातीत अवस्था होगी। सारा मदार आंखों पर है, आंखें ही धोखा देती हैं। आत्मा इन खिड़कियों से देखती है, इसमें तो डबल आत्मा है। बाप भी इन खिड़कियों से देख रहे हैं। हमारी भी दृष्टि आत्मा पर जाती है। बाप आत्मा को ही समझाते हैं। कहते हैं मैंने भी शरीर लिया है, तब बोल सकते हैं। तुम जानते हो बाबा हमको सुख की दुनिया में ले जाते हैं। यह है रावण राज्य। तुमने इस पतित दुनिया से किनारा कर लिया है। कोई बहुत आगे बढ़ गये, कोई पिछाड़ी में हट गये। हर एक कहते भी हैं पार लगाओ। अब पार तो जायेंगे सतयुग में। परन्तु वहाँ पद ऊंच पाना है तो पवित्र बनना है। मेहनत करनी है। मुख्य बात है बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों। यह है पहली सब्जेक्ट।

तुम अभी जानते हो हम आत्मा एक्टर हैं। पहले-पहले हम सुखधाम में आये फिर अब दु:खधाम में आये हैं। अब बाप फिर सुखधाम में ले जाने आये हैं। कहते हैं मुझे याद करो और पवित्र बनो। कोई को भी दु:ख न दो। एक-दो को बहुत दु:ख देते रहते हैं। कोई में काम का भूत आया, कोई में क्रोध आया, हाथ चलाया। बाप कहेंगे यह तो दु:ख देने वाली पाप आत्मा है। पुण्य आत्मा कैसे बनेंगे। अब तक पाप करते रहते हैं। यह तो नाम बदनाम करते हैं। सब क्या कहेंगे! कहते हैं हमको भगवान पढ़ाते हैं! हम मनुष्य से देवता विश्व के मालिक बनते हैं! वह फिर ऐसे काम करते हैं क्या! इसलिए बाबा कहते हैं रोज़ रात में अपने को देखो। अगर सपूत बच्चे हैं तो चार्ट भेजें। भल कोई चार्ट लिखते हैं, परन्तु साथ में यह लिखते नहीं कि हमने किसको दु:ख दिया वा यह भूल की। याद करते रहे और कर्म उल्टे करते रहे, यह भी ठीक नहीं। उल्टे कर्म करते तब हैं जब देह-अभिमानी बन पड़ते हैं।

यह चक्र कैसे फिरता है – यह तो बहुत सहज है। एक दिन में भी टीचर बन सकते हैं। बाप तुमको 84 का राज़ समझाते हैं, टीच करते हैं। फिर जाकर उस पर मनन करना है। हमने 84 जन्म कैसे लिये? उस सिखलाने वाले टीचर से दैवीगुण भी जास्ती धारण कर लेते हैं। बाबा सिद्ध कर बतला सकते हैं। दिखाते हैं बाबा हमारा चार्ट देखो। हमने ज़रा भी किसको दु:ख नहीं दिया है। बाबा कहेंगे यह बच्चा तो बड़ा मीठा है। अच्छी खुशबू निकाल रहे हैं। टीचर बनना तो सेकण्ड का काम है। टीचर से भी स्टूडेन्ट याद की यात्रा में तीखे निकल जाते हैं। तो टीचर से भी ऊंच पद पायेंगे। बाबा तो पूछते हैं, किसको टीच करते हो? रोज़ शिव के मन्दिर में जाकर टीच करो। शिवबाबा कैसे आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं? स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। समझाना बहुत ही सहज है। बाबा को चार्ट भेज देते हैं – बाबा हमारी अवस्था ऐसी है। बाबा पूछते हैं बच्चे कोई विकर्म तो नहीं करते हो? क्रिमिनल आई उल्टा-सुल्टा काम तो नहीं कराती है? अपने मैनर्स, कैरेक्टर्स देखने हैं। चाल-चलन का सारा मदार आंखों पर है। आंखें अनेक प्रकार से धोखा देती हैं। ज़रा भी बिगर पूछे चीज़ उठाकर खाया तो वह भी पाप बन जाता है क्योंकि बिगर छुट्टी के उठाई ना। यहाँ कायदे बहुत हैं। शिवबाबा का यज्ञ है ना। चार्ज वाली के बिगर पूछे चीज़ खा नहीं सकते। एक खायेंगे तो और भी ऐसे करने लग पड़ेंगे। वास्तव में यहाँ कोई चीज़ ताले के अन्दर रखने की दरकार नहीं है। लॉ कहता है इस घर के अन्दर, किचन के सामने कोई भी अपवित्र आने नहीं चाहिए। बाहर में तो अपवित्र-पवित्र का सवाल ही नहीं। परन्तु पतित तो अपने को कहते हैं ना। सब पतित हैं। कोई वल्लभाचारी को अथवा शंकराचार्य को हाथ लगा न सकें क्योंकि वह समझते हैं हम पावन, यह पतित हैं। भल यहाँ सबके शरीर पतित हैं तो भी पुरुषार्थ अनुसार विकारों का सन्यास करते हैं। तो निर्विकारी के आगे विकारी मनुष्य माथा टेकते हैं। कहते हैं यह बड़ा स्वच्छ धर्मात्मा मनुष्य है। सतयुग में तो मलेच्छ होते नहीं। है ही पवित्र दुनिया। एक ही कैटेगरी है। तुम इस सारे राज़ को जानते हो। शुरू से लेकर सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बुद्धि में रहना चाहिए। हम सब कुछ जानते हैं। बाकी कुछ भी जानने का रहता ही नहीं। रचता बाप को जाना, सूक्ष्मवतन को जाना, भविष्य मर्तबे को जाना, जिसके लिए ही पुरूषार्थ करते हो फिर अगर चलन ऐसी हो जाती है तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। किसको दु:ख देते, विकार में जाते हैं या बुरी दृष्टि रखते हैं, तो यह भी पाप है। दृष्टि बदल जाए बड़ी मेहनत है। दृष्टि बहुत अच्छी चाहिए। आंखे देखती हैं – यह क्रोध करते हैं तो खुद भी लड़ पड़ते हैं। शिवबाबा में ज़रा भी लव नहीं, याद ही नहीं करते। बलिहारी शिवबाबा की है। बलिहारी गुरू आपकी…… बलिहारी उस सतगुरू की जिसने गोविन्द श्रीकृष्ण का साक्षात्कार कराया। गुरू द्वारा तुम गोविन्द बनते हो। साक्षात्कार से सिर्फ मुख मीठा नहीं होता। मीरा का मुख मीठा हुआ क्या? सचमुच स्वर्ग में तो गई नहीं। वह है भक्ति मार्ग, उनको स्वर्ग का सुख नहीं कहेंगे। गोविन्द को सिर्फ देखना नहीं है, ऐसा बनना है। तुम यहाँ आये ही हो ऐसा बनने। यह नशा रहना चाहिए हम उनके पास जाते हैं जो हमको ऐसा बनाते हैं। तो बाबा सबको यह राय देते हैं चार्ट में यह भी लिखो – आंखों ने धोखा तो नहीं दिया? पाप तो नहीं किया? आंखें कोई न कोई बात में धोखा जरूर देती हैं। आंखें बिल्कुल शीतल हो जानी चाहिए। अपने को अशरीरी समझो। यह कर्मातीत अवस्था पिछाड़ी में होगी सो भी जब बाबा को अपना चार्ट भेज देंगे। भल धर्मराज के रजिस्टर में सब जमा हो जाता है ऑटोमेटिकली। परन्तु जबकि बाप साकार में आये हैं तो कहते हैं साकार को मालूम पड़ना चाहिए। तो खबरदार करेंगे। क्रिमिनल आई अथवा देह-अभिमान वाला होगा तो वायुमण्डल को अशुद्ध कर देंगे। यहाँ बैठे भी बुद्धियोग बाहर चला जाता है। माया बहुत धोखा देती है। मन बहुत तूफानी है। कितनी मेहनत करनी पड़ती है – यह बनने के लिए। बाबा के पास आते हैं, बाबा ज्ञान का श्रृंगार कराते हैं आत्मा को। समझते हो हम आत्मा ज्ञान से पवित्र होंगी। फिर शरीर भी पवित्र मिलेगा। आत्मा और शरीर दोनों पवित्र सतयुग में होते हैं। फिर आधाकल्प बाद रावण राज्य होता है। मनुष्य कहेंगे भगवान ने ऐसे क्यों किया? यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। भगवान ने थोड़ेही कुछ किया। सतयुग में होता ही है – एक देवी-देवता धर्म। कोई-कोई कहते हैं ऐसे भगवान को हम याद ही क्यों करें। लेकिन तुम्हारा दूसरे धर्म से कोई मतलब नहीं। जो कांटे बने हैं वही आकर फूल बनेंगे। मनुष्य कहते हैं क्या भगवान सिर्फ भारतवासियों को ही स्वर्ग में ले जायेंगे, हम मानेंगे नहीं, भगवान को भी दो आंखे हैं क्या! परन्तु यह तो ड्रामा बना हुआ है। सब स्वर्ग में आयें तो फिर अनेक धर्मों का पार्ट कैसे चले? स्वर्ग में इतने करोड़ होते नहीं। पहली-पहली मुख्य बात भगवान कौन है, उनको तो समझो। यह नहीं समझा है तो अनेक प्रश्न करते रहेंगे। अपने को आत्मा समझेंगे तो कहेंगे यह तो बात ठीक है। हमको पतित से पावन जरूर बनना है। याद करना है उस एक को। सब धर्मों में भगवान को याद करते हैं।

तुम बच्चों को अभी यह ज्ञान मिल रहा है। तुम समझते हो यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। तुम कितना प्रदर्शनी में भी समझाते हो। निकलते बिल्कुल थोड़े हैं। परन्तु ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि इसलिए करनी नहीं चाहिए। ड्रामा में था, किया, कहाँ निकलते भी हैं प्रदर्शनी से। कहाँ नहीं निकलते हैं। आगे चल आयेंगे, ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करेंगे। कोई को कम पद पाना होगा तो इतना पुरूषार्थ नहीं करेंगे। बाप बच्चों को फिर भी समझाते हैं, विकर्म कोई नहीं करो। यह भी नोट करो कि हमने किसी को दु:ख तो नहीं दिया? कोई से लड़ा-झगड़ा तो नहीं? उल्टा-सुल्टा तो नहीं बोला? कोई अकर्तव्य कार्य तो नहीं किया? बाबा कहते हैं विकर्म जो किये हैं सो लिखो। यह तो जानते हो द्वापर से लेकर विकर्म करते अभी बहुत विकर्मी बन गये। बाबा को लिखकर देने से बोझा हल्का हो जायेगा। लिखते हैं हम किसको दु:ख नहीं देते हैं। बाबा कहेंगे अच्छा, चार्ट लेकर आना तो देखेंगे। बाबा बुलायेंगे भी ऐसे अच्छे बच्चे को हम देखें तो सही। सपूत बच्चों को बाप बहुत प्यार करते हैं। बाबा जानते हैं अभी कोई सम्पूर्ण बना नहीं है। बाबा हर एक को देखते हैं, कैसे पुरूषार्थ करते हैं। बच्चे चार्ट नहीं लिखते हैं तो जरूर कुछ खामियां हैं, जो बाबा से छिपाते हैं। सच्चा ऑनेस्ट बच्चा उनको ही समझता हूँ जो चार्ट लिखते हैं। चार्ट के साथ फिर मैनर्स भी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं का बोझ हल्का करने के लिए जो भी विकर्म हुए हैं, वह बाप को लिखकर देना है। अब किसी को भी दु:ख नहीं देना है। सपूत बनकर रहना है।

2) अपनी दृष्टि बहुत अच्छी बनानी है। आंखें धोखा न दें – इसकी सम्भाल करनी है। अपने मैनर्स बहुत-बहुत अच्छे रखने हैं। काम-क्रोध के वश हो कोई पाप नहीं करने हैं।

वरदान:- बीती को चिंतन में न लाकर फुलस्टॉप लगाने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव
अभी तक जो कुछ हुआ – उसे फुलस्टॉप लगाओ। बीती को चिंतन में न लाना – यही तीव्र पुरूषार्थ है। यदि कोई बीती को चिंतन करता है तो समय, शक्ति, संकल्प सब वेस्ट हो जाता है। अभी वेस्ट करने का समय नहीं है क्योंकि संगमयुग की दो घड़ी अर्थात् दो सेकेण्ड भी वेस्ट किया तो अनेक वर्ष वेस्ट कर दियेइसलिए समय के महत्व को जान अब बीती को फुलस्टॉप लगाओ। फुलस्टॉप लगाना अर्थात् सर्व खजानों से फुल बनना।
स्लोगन:- जब हर संकल्प श्रेष्ठ होगा तब स्वयं का और विश्व का कल्याण होगा।

TODAY MURLI 31 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 30 August 2019:- Click Here

31/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, churn the things that the Father reminds you of at the confluence age and you will remain constantly cheerful.
Question: Qu What is the way to remain constantly light? What method should you adopt to remain happy?
Answer: In order to remain constantly light, place in front of the eternal Surgeon all the sins you have committed in this birth and stay on the pilgrimage of remembrance for the sins you have been committing for birth after birth that are on your head. Your sins will only be cut away by your having remembrance and then there will be happiness. You souls will become satopradhan by having remembrance of the Father.

Om shanti. The spiritual Father explains to you sweetest spiritual children. You remember that you belonged to the original eternal deity religion, that you used to rule the kingdom and that you truly were the masters of the world. At that time, there was no other religion. We took birth in the golden age and went around the cycle of 84 births. We now remember the whole tree. We were deities and then we came into the kingdom of Ravan and no longer remained worthy of being called deities. This is why they have considered it to be another religion. No one else’s religion changes. For instance, the religion of Christ is Christianity and the religion of Buddha is Buddhism. It is in everyone’s intellect that Buddha established his religion at such-and-such a time. Hindus don’t know their own religion, when their religion began or who established it. They simply speak of hundreds of thousands of years. Only you children have the knowledge of the whole world cycle. This is called gyan and vigyan. Although they have called their building Vigyan Bhavan, the Father explains its real meaning to you children: Knowledge and yoga; the knowledge of the Creator and the beginning, middle and end of creation. You now understand that even you did not know that you were atheists. This knowledge cannot exist in the golden age. The Teacher now teaches you this. You study this and receive your fortune of the kingdom because you need a new world to live in. Pure deities cannot set foot in this old world. The Father comes and establishes the new world for you and has the old world destroyed. Destruction definitely has to take place for us. We play these parts for cycle after cycle. Baba asks: “Did you ever meet Me before?” and you reply: Baba, we meet You every cycle to take our fortune of the kingdom from You. We received our fortune of the kingdom of unlimited happiness in the previous cycle too. You are now aware of all of these things, so you should churn them. Baba calls this the discus of self-realisation. Previously, we were satopradhan. You also remember that each soul has his own part to play. I am a tiny imperishable soul and the imperishablepart of myself, the soul, continues eternally. That which is predestined is taking place. Nothing new can be added or cut away. No one can attain eternal liberation. Some ask for liberation. Liberation is separate from eternal liberation. You have to keep this in your awareness. If you have it in your awareness, you will also remind others of it. This is your business. Remind others of what the Father has made you aware of and you will be able to claim a high status. You have to make a lot of effort to claim a high status. The main effort is in yoga. This is the pilgrimage of remembrance which no one except the Father can teach you. You are now studying the study to change from human beings into deities. You know that you will go to the new world once again. The very name of that is the land of immortality whereas this is the land of death. Here, there is sudden death while just sitting somewhere. There is no name or trace of death there because death, doesn’t in fact come to souls. Death is not a sweet. According to the drama, when it is time, the soul departs. Whenever it is time for a soul to leave, he departs. No one can catch hold of death. A soul sheds a body and takes another. Death is nothing really, but they have sat and made up tall stories. That is the land of immortality where the bodies are free from disease. In the golden age, the lifespans of the people of Bharat are long; they are yogis. It is now that you know the difference between yogis and bhogis (those who indulge in sensual pleasures). Your lifespans are now increasing. The more you stay in yoga, the more your sins will be burnt away; you will claim a high status and your lifespans will be long. Just as the king and queen complete their lifespans and then shed their bodies so it is the same for the subjects. However, there is a difference in the status. The Father now says to you: Children who spin the discus of self-realisation, these ornaments belong to you. You live at home with your families and you live like a lotus. No one but you can live like this. You are also aware of how many sins you have committed in this birth. This is why Baba says: Place all of those in front of the eternal Surgeon and you will become light. However, you have to stay in yoga because of the sins of your many births you have on your head. It is only by having yoga that your sins will be cut away and you will remain happy. You will become satopradhan by having remembrance of the Father. You know that you will become this by having remembrance. So, who wouldn’t stay in remembrance? However, this is also a battlefield. You have to make effort to attain such a high status. You children have the awareness that you claim the highest-on-high inheritance from the unlimited Father. You claim it cycle after cycle. Many people will come to you. They will come and take the great mantra of “Manmanabhav” from you. The meaning of “Manmanabhav” is: Consider yourself to be a soul and remember the Father. This is the great mantra to become a great soul. Those people are not mahatmas (great souls). In fact, Shri Krishna is called a mahatma because he is pure. Deities are always pure. Deities belong to the family path whereas sannyasis belong to the path of isolation. Women cannot roam around. All of these bad things are happening now in the iron age. They even convert women into sannyasis and take them with them. Nevertheless, Bharat has been supported with their purity. Just as an old building is painted to make it look new again, so it is as though those sannyasis also paint it a little and save it a little. However, the Father says: That is a separate religion; they remain pure. It is only in the land of Bharat that there are so many temples to the deities and so much devotion etc. That too is a play which you describe. All of that is needed for the path of devotion. The one Shiva has been given so many names and temples have continued to be built to Him according to those names. There are so many temples. So much expense is incurred but, nevertheless, they only receive happiness for half the cycle. They spend a lot of money; the idols get broken. There is no need for temples etc. there. You are now aware that devotion lasts for half the cycle and that there is then no mention of devotion for half the cycle. The Father makes you aware of this variety tree. If the duration of just the iron age were 40,000 years, then the duration of Christianity etc. would also increase. The Father explains: There is this limit of the Christian religion. You know that it has been this long since Christcame and this long since such-and-such a religion was established, but when will they go? They don’t know. They have lengthened the duration of the cycle. You now know that preparations are being made for destruction. Theirs is science whereas yours is silence. The more you go into silence, the more they will continue to invent very good things for destruction. They continue to make even more refined things day by day. You have the happiness inside you that Baba has come to create the new world for you. So, we are not going to stay in the old world. It is the wonder of Baba! Baba, it is the wonder of You creating heaven! You are now aware of everything. Those people don’t know the Creator or the beginning, middle or end of creation. You know it. You are so enlightened. People are in extreme darkness. There is a difference. When the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. Those on the path of devotion do not know knowledge. You now know about devotion and you also know about knowledge. You are aware of everything of when devotion begins and when it ends. You are also aware of when the Father gives you knowledge and when that will end. It is numberwise: some are aware of it a lot and others only a little. Those who are aware of it a lot will claim a high status. Only when you are aware of this will you be able to explain to others. You have wonderful awareness. What was in your intellects previously? Your foreheads became worn out with devotion, chanting, tapasya, pilgrimages and bowing down. There is so much difference between the awareness of devotion and the awareness of knowledge. You now know about devotion because you have been doing it from its beginning. You know that you were the first ones to have worshipped Shiva and that you then worshipped the deities. No one else is aware of this. You are aware of the beginning, middle and end of creation and devotion etc. While performing devotion for half the cycle, you have only continued to come down. Mountains of sorrow are still to fall. Before they fall, you children have to make effort so that you have your sins absolved on the pilgrimage of remembrance. This is what you explain to everyone. Thousands will come to you. Make effort to show this path to your brothers and sisters. You are now aware of knowledge and devotion. This means that you now know the whole drama, numberwise, according to your efforts. The better someone knows it, the better he can explain it. It is you children who have to explain to others. It is remembered: Son shows Father. The Father would explain to you children and then you children would explain to others. You explain to souls. This knowledge is completely separate from devotion. It is remembered: The one God comes and gives the fruit to all the devotees. All are the children of the one Father. The Father says: I take all the children back to the land of peace and the land of happiness. It is now that you have this knowledge of cycle after cycle. You will not have this knowledge there. You become impure and so the Father makes so much effort on you to make you pure. This is why it is remembered: I surrender Myself to You. I sacrifice Myself to You! To whom? To the Father. The Father then gives you the example of how this one surrendered himself. You have to follow this sample. They then become Lakshmi and Narayan. If you want to claim such a high status, you have to surrender yourselves like they did. Those who are wealthy cannot surrender themselves. Here, you have to sacrifice everything. Wealthy ones would definitely be aware of their wealth. It is remembered: Those who remember their wife at the end… What will you do with all that money? No one will take anything because everything is to be destroyed. What would I do with it if I took it from you? Everything, including that body, is to be destroyed. When you die, the world is dead for you. None of that wealth etc. will remain. In the Garuda Purana etc., they have mentioned fearsome stories to scare people. The Father says: All of those scriptures belong to the path of devotion. The path of devotion continues for half the cycle when it is the kingdom of Ravan. Ask any of them when they started to burn Ravan and they will say: From time immemorial! Oh! But Ravan doesn’t exist from time immemorial. Because they don’t know, they say: From time immemorial! You children are now aware of when the kingdom of Ravan begins. You also understand the secrets of the Creator and creation. The Father now says: Children, constantly remember Me alone and your sins can be cut away. Continue to caution one another in this way. When you go walking with one another, just talk about these things amongst yourselves. If your whole group were to go walking in this stage of remembrance, your silence would have a great impact. Even priests walk in total silence in remembrance of Christ; they don’t even look at anyone else. You can stay in remembrance a great deal here because you don’t have any mundane business. The atmosphere is very good. Outside, the atmosphere is very dirty. This is why the ashrams of sannyasis are very far away. Yours is unlimited renunciation. The old world is now about to go. This is the graveyard and it is to become the land of angels. There will be palaces studded with jewels and diamonds there. Lakshmi and Narayan were the masters of the land of angels. They are not that now. The Father says: I come every cycle at the confluence age. This whole cycle continues to repeat. You are now aware of everything at this time because the Father makes you aware. Previously, you didn’t have any of this in your intellects. When you stay in the intoxication of this awareness, you will be able to explain to others with happiness. You have to look after your homes and families while maintaining this awareness. Achcha.

To the sweetest spiritual children who always stay in the intoxication of this awareness, love, remembrance and good morning from the Mother, Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the beginning, middle and end of the drama very well, keep this in your awareness and also remind others. Give the ointment of knowledge and remove the darkness of ignorance.
  2. In order to surrender yourself fully like Father Brahma, follow him completely. Everything, including your body, is to end. Therefore, die alive in advance so that you do not remember anything in the final moments.
Blessing: May you be loved by all and finish the worries of all souls through their connection with you.
At the present time, because people have selfish motives and the short-lived attainments of material comforts, souls are distressed by one or another type of worry. Even their brief connections with you souls who have pure and positive thoughts become the basis for finishing the worries of those souls. Today, the world needs souls likes you who have pure and positive thoughts for others and this is why you are deeply loved by the world.
Slogan: The words of you souls who are as valuable as diamonds are also valuable.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 August 2019

To Read Murli 30 August 2019:- Click Here
31-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप ने तुम्हें संगम पर जो स्मृतियाँ दिलाई हैं, उसका सिमरण करो तो सदा हर्षित रहेंगे”
प्रश्नः- सदा हल्के रहने की युक्ति क्या है? किस साधन को अपनाओ तो खुशी में रह सकेंगे?
उत्तर:- सदा हल्का रहने के लिए इस जन्म में जो-जो पाप हुए हैं, वह सब अविनाशी सर्जन के आगे रखो। बाकी जन्म-जन्मान्तर के पाप जो सिर पर हैं उसके लिए याद की यात्रा में रहो। याद से ही पाप कटेंगे, फिर खुशी रहेगी। बाप की याद से आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं – तुमको स्मृति आई है कि हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे, हम राज्य करते थे, हम बरोबर विश्व के मालिक थे। उस समय दूसरा कोई धर्म नहीं था। हमने ही सतयुग से लेकर जन्म लेते 84 का चक्र पूरा किया। सारे झाड़ की स्मृति आई है। हम देवता थे फिर रावण राज्य में आ गये तो देवी-देवता कहलाने के लायक न रहे इसलिए धर्म ही दूसरा समझ लिया। और किसका भी धर्म बदलता नहीं है। जैसे क्राइस्ट का क्रिश्चियन धर्म, बुद्ध का बौद्ध धर्म ही चला आता है। सबकी बुद्धि में है बुद्ध ने फलाने टाइम धर्म स्थापन किया। हिन्दुओं को अपने धर्म का पता ही नहीं है कि हमारा हिन्दू धर्म कब से शुरू हुआ, किसने बनाया? लाखों वर्ष कह देते। सारे सृष्टि चक्र का नॉलेज तुम बच्चों को ही है, इसको कहते हैं ज्ञान-विज्ञान। उन्होंने विज्ञान भवन नाम भल रखा है परन्तु बाप उसका अर्थ समझाते हैं – ज्ञान और योग, रचता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान, अभी तुम समझते हो कि हम भी नहीं जानते थे, नास्तिक थे। सतयुग में तो यह ज्ञान हो नहीं सकता। अभी तुमको टीचर ने पढ़ाया है। पढ़कर तुमको राज्य-भाग्य मिलता है क्योंकि तुमको रहने के लिए नई सृष्टि चाहिए। इस पुरानी सृष्टि में तो पवित्र देवी-देवतायें पैर रख न सकें। बाप आकर तुम्हारे लिए पुरानी दुनिया का विनाश कर नई दुनिया स्थापन करते हैं। हमारे लिए विनाश जरूर होना है। कल्प-कल्पान्तर हम यह पार्ट बजाते हैं। बाबा पूछते हैं आगे कब मिले हो? तो कहते हैं – बाबा, हर कल्प मिलते हैं, आप से राज्य भाग्य लेने। कल्प पहले भी बेहद सुख का राज्य भाग्य मिला था। यह सब बातें जो स्मृति में आई हैं, अब उनका सिमरण होना चाहिए, जिसको बाबा स्वदर्शन चक्र कहते हैं। हम पहले सतोप्रधान थे। यह भी तुम्हें स्मृति आई कि हरेक आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। हम आत्मा छोटी अविनाशी हैं, उनमें पार्ट भी अविनाशी है जो चलता ही रहेगा। यह बनी बनाई बन रही….. इसमें नई बात कोई एड वा कट नहीं हो सकती है। कोई भी मोक्ष को पा नहीं सकते। कोई मुक्ति मांगते हैं, मुक्ति अलग है, मोक्ष अलग है। यह भी स्मृति में रखना है। स्मृति में होगा तो औरों को भी स्मृति दिलायेंगे। तुम्हारा धन्धा ही यह है। बाप ने जो स्मृति में लाया है, वह फिर औरों को भी स्मृति दिलाओ तब ऊंच पद पा सकेंगे। ऊंच पद पाने के लिए बहुत मेहनत करनी है। मुख्य मेहनत है योग की। यह है याद की यात्रा, जो बाप के सिवाए और कोई सिखला नहीं सकते। अभी तुम मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई पढ़ते हो। तुम जानते हो कि हम फिर से नई दुनिया में जायेंगे। उसका नाम ही है अमरलोक। यह है मृत्युलोक। यहाँ तो अचानक बैठे-बैठे मौत आ जाता है। वहाँ मृत्यु का नाम-निशान नहीं क्योंकि आत्मा को तो वास्तव में काल खाता नहीं। कोई मिठाई की चीज़ थोड़ेही है। ड्रामा अनुसार जब समय होता है तो आत्मा चली जाती है। जिस समय जिसको जाना होता है, वह चला जाता है। काल कोई पकड़ता नहीं है। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। काल कुछ भी नहीं है। यह तो कथायें बैठ बनाई हैं। वह है अमरलोक, वहाँ निरोगी काया रहती है। सतयुग में भारतवासियों की आयु भी बड़ी थी, योगी थे। योगी और भोगी का फर्क भी अब मालूम पड़ता है। तुम्हारी आयु वृद्धि को पा रही है। जितना तुम योग में रहेंगे, उतना पाप भस्म होंगे और पद भी ऊंच मिलेगा, आयु भी बड़ी होगी। यथा राजा रानी आयु पूरी कर शरीर छोड़ते हैं, प्रजा का भी ऐसा होता है। परन्तु पद का फर्क है।

अब बाप तुमको कहते हैं – स्वदर्शन चक्रधारी बच्चों, यह अलंकार तुम्हारे हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान तुम रहते हो। सिवाए तुम्हारे और कोई रह न सकें। यह भी स्मृति आई है कि इस जन्म में हमने कितने पाप किये हैं इसलिए बाबा कहते हैं वह सब अविनाशी सर्जन के आगे रखो तो हल्के हो जायेंगे। बाकी जन्म-जन्मान्तर के पाप जो सिर पर हैं, उसके लिए योग में रहना है। योग से ही पाप कटेंगे और खुशी भी रहेगी। बाप की याद से सतोप्रधान बन जायेंगे। मालूम है कि हम याद से यह बनेंगे तो कौन याद नहीं करेगा। परन्तु यह युद्ध का मैदान है, मेहनत करनी पड़ती है इतना ऊंच पद पाने के लिए। यह भी बच्चों को स्मृति आई है कि बेहद के बाप से हम ऊंच ते ऊंच वर्सा लेते हैं, कल्प-कल्प लेते हैं। तुम्हारे पास बहुत आयेंगे, आकर महामंत्र लेंगे मनमनाभव का। मनमनाभव का अर्थ है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह है महान् मंत्र, महान् आत्मा बनने के लिए। वह कोई महात्मा है नहीं। महात्मा तो वास्तव में श्रीकृष्ण को कहा जाता है क्योंकि वह पवित्र है। देवतायें सदैव पवित्र रहते हैं। देवताओं का है प्रवृत्ति मार्ग, सन्यासियों का है निवृति मार्ग। स्त्रियाँ तो धक्के खा न सकें। यह सब अभी कलियुग में खराबियाँ हो गई हैं। स्त्रियों को भी सन्यासी बनाकर ले जाते हैं। फिर भी उन्हों की पवित्रता पर भारत थमा रहता है। जैसे पुराने मकान को पोची आदि लगाई जाती है तो जैसे नया बन जाता है। यह सन्यासी भी पोची दे कुछ बचाव करते हैं। परन्तु बाप कहते हैं वह धर्म ही अलग है, पवित्र बनते हैं।

भारत खण्ड में ही इतने देवी-देवताओं के मन्दिर भक्ति आदि है। यह भी खेल है, जिसका वृतान्त तुम बताते हो। भक्ति मार्ग के लिए यह सब भी चाहिए ना। एक शिव के ही कितने नाम रख दिये हैं। नाम पर मन्दिर बनता गया है। ढेर के ढेर मन्दिर हैं। कितना खर्चा होता है। मिलता फिर भी आधाकल्प का सुख है। बस, बहुत पैसे लगाते हैं, मूर्तियाँ टूट फूट जाती हैं। वहाँ तो मन्दिर आदि की दरकार नहीं है। यह भी अभी स्मृति आई है कि आधाकल्प भक्ति चलती है, आधाकल्प फिर भक्ति का नाम नहीं। बाप कितनी स्मृति दिलाते हैं – इस वैराइटी झाड़ की। सिर्फ कलियुग की आयु ही 40 हजार वर्ष हो फिर तो क्रिश्चियन आदि की आयु भी बहुत बढ़ जाये। बाप समझाते हैं क्रिश्चियन धर्म की इतनी ही लिमिट है। यह जानते हैं, क्राइस्ट को इतना समय हुआ है, फलाने को इतना समय हुआ धर्म स्थापन किये, लेकिन फिर जायेंगे कब? यह पता नहीं है। कल्प की आयु ही लम्बी कर दी है। अभी तुम जानते हो यह तो विनाश की तैयारियाँ हो रही हैं। उन्हों की है साइन्स, तुम्हारी है साइलेन्स। तुम जितना साइलेन्स में जायेंगे उतना वह विनाश के लिए अच्छी-अच्छी चीजें तैयार करते रहेंगे। दिन-प्रतिदिन महीन चीजें बनाते रहते हैं। तुमको अन्दर में खुशी होती है – बाबा तो हमारे लिए नई दुनिया बनाने आये हैं। तो अब हम पुरानी दुनिया में थोड़ेही रहेंगे। कमाल है बाबा की। बाबा आपके स्वर्ग स्थापन करने की तो कमाल है। अभी तुमको सारी स्मृति आई है। वह तो रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते ही नहीं हैं। तुम जानते हो। तुम कितनी रोशनी में हो। मनुष्य तो घोर अन्धियारे में है। फर्क है ना। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया अज्ञान अन्धेर विनाश। भक्ति वाले ज्ञान को नहीं जानते हैं। अभी तुम भक्ति को भी जानते हो तो ज्ञान को भी जानते हो। सारी स्मृति आई है – भक्ति कब शुरू होती है, फिर कब पूरी होती है। बाप कब ज्ञान देते हैं, पूरा कब होगा, सब स्मृति है। नम्बरवार तो हैं ही। किसको बहुत स्मृति है, किसको कम। जिन्हों को बहुत स्मृति रहती है, वह ऊंच पद पायेंगे। स्मृति रहे तब औरों को भी समझायें। वन्डरफुल स्मृति है ना। आगे तुम्हारी बुद्धि में क्या था। भक्ति, जप, तप, तीर्थ करना, माथा टेकना, सारी टिप्पड़ ही घिस गई है। भक्ति की स्मृति और ज्ञान में कितना फर्क है। तुम अभी भक्ति को जानते हो क्योंकि शुरू से भक्ति की है। जानते हो हमने पहले-पहले शिव की भक्ति की, फिर देवताओं की। और कोई को भी यह स्मृति नहीं है, तुमको रचना के आदि-मध्य-अन्त, भक्ति आदि की सब स्मृति है। आधाकल्प भक्ति करते-करते गिरते ही आये हो।

अभी तो दु:ख के पहाड़ गिरने हैं। तुम बच्चों को पुरूषार्थ करना है, यह गिरने से पहले हम याद की यात्रा से विकर्म विनाश करें। सबको तुम यही समझाते हो, तुम्हारे पास हज़ारों आते हैं। तुम मेहनत करते हो भाई-बहिनों को रास्ता बताने की। ज्ञान और भक्ति की स्मृति आई है। गोया तुम सारे ड्रामा को नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जान गये हो। जो जितना अच्छी रीति जानते हैं वह समझा भी सकते हैं। समझाना तो बच्चों को ही है। गायन भी है सन शोज़ फादर। बाप बच्चों को समझायेंगे, बच्चे फिर और भाइयों को समझायेंगे। आत्माओं को समझाते हो ना। भक्ति से यह ज्ञान बिल्कुल न्यारा है। गायन भी है ना – एक भगवान आकर सब भक्तों को फल देते हैं। एक बाप के सब बच्चे हैं। बाप कहते मैं सब बच्चों को शान्तिधाम, सुखधाम में ले जाता हूँ। कल्प-कल्प का यह ज्ञान भी तुमको अभी है, वहाँ नहीं होगा। तुम पतित बनते हो तो पावन बनाने के लिए बाप तुम पर कितनी मेहनत करते हैं इसलिए गायन है कुर्बान जाऊं…. वारी जाऊं….। किस पर? बाप पर। फिर बाप मिसाल बताते हैं – यह कुर्बान कैसे गया। फालो इस सैम्पुल को करो। यही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। अगर इतना ऊंच पद पाना है तो ऐसा कुर्बान जाना है। साहूकार कभी कुर्बान हो न सकें। यहाँ तो स्वाहा करना पड़े। साहूकार को स्मृति जरूर आयेगी। गायन भी है ना अन्तकाल जो स्त्री सिमरे….. इतने सब पैसे क्या करेंगे। कोई लेगा ही नहीं क्योंकि सब खत्म हो जाने हैं। मैं भी लेकर क्या करूंगा। शरीर सहित सब कुछ खलास होना है। आप मुये मर गई दुनिया। यह धन आदि कुछ भी नहीं रहेगा। बाकी गरूड़ पुराण आदि में तो रोचक बातें डाल दी हैं, डराने के लिए।

बाप कहते हैं यह शास्त्र आदि हैं भक्ति मार्ग के। आधाकल्प भक्ति मार्ग चलता है। जबकि रावणराज्य होता है। कोई से पूछो रावण कब से जलाते हो? तो कहेंगे परम्परा से। अरे परम्परा से तो रावण होता ही नहीं। मालूम ही नहीं है तो कह देते हैं परम्परा से। तुम बच्चों को अब स्मृति आई है – रावण राज्य कब से शुरू होता है। रचता, रचना का राज़ भी तुम समझते हो। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मामेकम् याद करो तो पाप कटें। एक-दो को यही सावधानी देते रहो। घूमने-फिरने आपस में जाओ तो भी यह बातें करो। सारा झुण्ड तुम्हारा इस याद की अवस्था में चक्र लगाये तो तुम्हारे शान्ति का प्रभाव बहुत पड़ेगा। पादरी लोग भी बहुत साइलेन्स मे जाते हैं, क्राइस्ट की याद में। कोई तरफ देखते भी नहीं हैं। तुम तो यहाँ बहुत याद में रह सकते हो, कोई गोरखधन्धा नहीं है। बहुत अच्छा वायुमण्डल है। बाहर में तो बहुत छी-छी वायुमण्डल रहता है इसलिए सन्यासियों के आश्रम भी बहुत दूर-दूर होते हैं। तुम्हारा तो है ही बेहद का सन्यास। पुरानी दुनिया अब गई की गई। यह कब्रिस्तान है फिर परिस्तान होना है। वहाँ हीरे-जवाहरों के महल बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण परिस्तान के मालिक थे ना। अब नहीं हैं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे आता हूँ। यह सारा चक्र रिपीट होता ही रहता है। इस समय तुमको सब स्मृति आई है, जबकि बाप ने स्मृति दिलाई है। आगे कुछ भी बुद्धि में नहीं था। इस स्मृति के नशे में जब रहेंगे तो किसको उस खुशी से समझा भी सकेंगे। स्मृति में रहते तुम्हें घरबार सम्भालना है। अच्छा!

सदा स्मृति के नशे में रहने वाले मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को अच्छी तरह समझ, स्मृति में रख दूसरों को भी स्मृति दिलानी है। ज्ञान अंजन देकर अज्ञान अंधेरे को दूर करना है।

2) ब्रह्मा बाप समान कुर्बान जाने में पूरा फालो करना है। शरीर सहित सब खलास हो जाना है इसलिए इससे पहले ही जीते जी मरना है। ताकि अन्त समय में कुछ भी याद न आये।

वरदान:- अपने सम्पर्क द्वारा अनेक आत्माओं की चिंताओं को मिटाने वाले सर्व के प्रिय भव
वर्तमान समय व्यक्तियों में स्वार्थ भाव होने के कारण और वैभवों द्वारा अल्पकाल की प्राप्ति होने के कारण आत्मायें कोई न कोई चिंता में परेशान हैं। आप शुभचिंतक आत्माओं के थोड़े समय का सम्पर्क भी उन आत्माओं की चिंताओं को मिटाने का आधार बन जाता है। आज विश्व को आप जैसी शुभचिंतक आत्माओं की आवश्यकता है इसलिए आप विश्व को अतिप्रिय हो।
स्लोगन:- आप हीरे तुल्य आत्माओं के बोल भी रत्न समान मूल्यवान हों।

TODAY MURLI 31 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 August 2018 :- Click Here

31/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make your stage that of a detached observer and cheerful, remain aware that each soul has his own part and that that which is predestined is taking place.
Question: By making which one effort can you children create your stage?
Answer: D on’t care about the storms of Maya but never have a “don’t care  attitude towards the shrimat that the Father gives you. By doing this, your stage will become unshakeable and immovable and it will also be cheerful and that of a detached observer. Your stage should be such that you never have to cry. Even if your mother dies, eat halva!
Song: You are the Mother and the Father. 

Om shanti. Children heard the song. Generally, people of the path of devotion go to the temples of Shiva, Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna or any of the other gods and goddesses. They sing the same praise in front of all of them: You are the Mother and the Father. Then they say: You are the One who gives knowledge, which means: You are the Mother and the Father and You are also the One who teaches us. In fact, you cannot say, “You are the Mother and the Father” to Lakshmi and Narayan or to Rama and Sita because they would have their own children who would not sing such praise. In fact, praise is of the one Shiva. Those people sing the praise, “Dev, Dev, Mahadev”, which means “You are greater than Brahma, Vishnu and Shankar.” They can’t understand the meaning of anything on the path of devotion. The Father now says: You have performed a lot of devotion. Now understand what I say and think about what is true and what is false. You children now understand that the praise that is sung of the Father and the deities is all wrong. Only that which I explain to you now is right. He explains to you children: This is an inverted tree and its Seed is the Supreme Father, the Supreme Soul. He lives up above. He is the Living Seed, whereas you are the children. Some people say that there is a soul in all seeds. However, those are non-living. The Father is called the Living Seed of the human world tree. People sing: O God, the Father! Achcha, you would not call a tree the Living Ocean of Knowledge. People have knowledge that that is a seed. The seed should definitely have knowledge of the tree. However, because it is non-living, it cannot say anything. Human beings understand that the seed is down below and that the tree emerges from it. The kalpa tree is compared to the banyan tree. That (kalpa tree) is living and this is non-living. There is a very big banyan tree in Calcutta. Its foundation has decayed but the tree is still standing. The wonder is that it doesn’t have a foundation. The Father explains: This tree doesn’t have a foundation either. The deity religion has disappeared but the rest of the tree exists. There are so many sects and cults. This is the unlimited tree. The unlimited Father sits here and explains. Baba writes that the birthday of Shiv Baba is like a diamond because Shiv Baba is the only One who changes us from shells into diamonds and creates heaven. Bharat has now become so poverty-stricken. People say, “Hum so, so hum”, but they don’t understand anything. Sannyasis have been beating drums, saying “I, the soul, am the Supreme Soul and the Supreme Soul is the soul.” You now know the meaning of everything. We have become Brahmins, then we will become deities and we will then go through the castes of warriors, merchants etc. The soul says: I will go through these castes. I was a shudra and have now come into the Brahmin caste. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who has created everyone. He is also the One who created the deities Brahma, Vishnu and Shankar. The Father now sits here and explains to you children. You say: You are the Mother and the Father. Therefore, this one is truly the mother. The Father sits here and entertains you children. Meera was a devotee on the path of devotion. That is the rosary of devotees. There is also the rosary of knowledge. The name of the rosary of knowledge is the rosary of Rudra. “The rosary of Ravan” wouldn’t be said. People don’t perform devotion of Ravan. There is the rosary of Rama. Although it is now the kingdom of Ravan, there is no rosary of Ravan. There is the rosary of devotees, but there cannot be a rosary of devils. One of the highest devotees was Meera who had visions of Shri Krishna. She completely let go of the opinion of society. Who is the second highest devotee? Narad. He is praised and his example is given. People have sat and made up those stories, because they are not real. The Father says: All males and females are Sita. All are in Ravan’s cottage of sorrow. It is not a question of Lanka, but of Bharat. Only the one Father is the Bestower of Salvation for All. If that One didn’t exist, Bharat would be of no use. It is Bharat that becomes the most impure and the most pure. Bharat is the greatest pilgrimage place of all. Although people go to the pilgrimages places of their own prophets, the Bestower of Salvation for All is the one Father. Bharat alone is the imperishable land. The Father says: I come here and give liberation-in-life to Bharat and liberation to all the rest. I am the Bestower of Salvation for All. There is only the one Father who establishes the land of truth. He makes you children worthy of ruling in the land of truth, but He Himself doesn’t rule. The Father sits here and explains: I come here every cycle to give Bharat salvation. I take all the rest back with Me to liberation. The soul of every human being has an imperishable part recorded in him. This means that that which is predestined is taking place. For instance, when a person’s father has died and taken another birth, what would be achieved by that person crying? You just have to observe everything as a detached observer. This is the drama. There is no need to cry. You have to live at home with your family. If your mother dies, eat halva, or if your wife dies, eat halva. This is said for those who live at home with their families. Your stage should be such that you don’t experience any sorrow. You have to continue to remember your unlimited Father. Your stage should be as unshakeable as when Ravan was unable to shake Angad. Maya is very powerful. You remain stable. No matter how many storms of Maya come, don’t care about them. You mustn’t be afraid or confused by them. Make effort and make your stage strong. Very good things are explained. You understand that you are Parvatis. Shiv Baba is telling you the story of immortality. In the land of immortality, there is happiness from its beginning through the middle to its end. In this land of death, there is nothing but sorrow from its beginning through the middle to the end. All the festivals etc. refer to this time. There are no festivals of Lakshmi and Narayan etc. What service do they do? You Brahmins do a lot of service. The souls of deities are not called social workers: they are neither physical nor spiritual social workers. You are double social workers: physical and spiritual. OK, people find it difficult to become conquerors of attachment because they don’t have any aim or objective. Here, you have a lot of attainment and so you should have totally destroyed your attachment. Have yoga with the one Baba. Baba, o sweet Baba, we now know You fully! Previously, we used to say “God, the Father” just for the sake of saying it. You have now come here to give us the sovereignty of heaven once again. This iron age is going to become a graveyard, so why should we remember it? The Father says: While living at home with your family in this graveyard, remember Me. This is very easy. People continue to worship Krishna on the path of devotion, and their intellects continue to wander to their businesses etc. The horse of the mind constantly runs somewhere or other like a madman. The Father says: While earning your physical livelihood, connect your intellects in yoga to Me. You will receive a lot of attainment by remembering Me. You receive temporary attainment from everyone else. OK, you performed so much intense devotion, but what happened then? You had visions and that was all! You didn’t receive liberation or liberation-in-life. The Father now says: You are to become the masters of the world for 21 births. In heaven, even the womb is like a palace. Here, the womb is a jail. You don’t have to celebrate the birthday of Krishna at all. You just have to explain when it was the birth of Krishna. Where is Krishna now? You know that you are now studying to become the masters of the land of Krishna. You are sitting with the Father. Would you salute your father by putting your palms together in front of Him? When a teacher is teaching you, do you put your palms together in front of him? Do you have to praise him? You have to study with the teacher. Do children repeatedly put their palms together in front of their father? At this time, you are at home. You have the feeling that that One is the Father and also the Purifier. At this time, because there is the eclipse of the five vices, you have become absolutely ugly. The five vices have made you ugly. In the golden age, you were beautiful and you are now ugly. Shri Krishna was beautiful and is now ugly. How many times would he have become ugly and beautiful? The land of Kans, the devil, becomes the land of Krishna, and the land of Krishna then becomes the land of Kans. You souls are residents of Brahmand. It is called the brahm element. To say “I am brahm” is also an illusion. You are the masters of Brahmand. Your throne is the brahm element. The Father says: I am the Master of Brahmand. You souls also say: Actually, our land is Brahmand. There, you souls are pure. You are the masters of Brahmand and then also the masters of the world. I am only the Master of Brahmand. I have to enter this old body of the one who has taken the full 84 births. You children should read or listen to the murli very well five or six times, for only then will it sit in your intellects and your mercury of happiness rise. Maya repeatedly makes you forget to have remembrance. There is no question of forcing yourself in this. When you have time, just remember Baba and become like a tortoise. The best time is in the early morning hours. The effect of that time would last throughout the whole day. It has also been explained to you children that you first have to feed the One who is feeding you and then eat it yourself. You are eating from Shiv Baba’s sacrificial fire and so you first have to offer Him bhog. You have all those visions in the subtle region. It is fixed in the drama. You have to offer bhog to Shiv Baba. He is incorporeal. It is remembered that the deities desired to have Brahma Bhojan because you become deities from Brahmins by eating Brahma Bhojan. Deities come to the subtle region and a happy gathering takes place there. All of that is fun and games. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your aim and objective fully in your intellect and become a conqueror of attachment. Forget this graveyard and remember the Father. Do spiritual and physical service.
  2. First of all, feed the One who is feeding you and then eat. The time of the early morning hours is good. Therefore, wake up at that time and remember the Father. You definitely have to read or listen to the murli five or six times.
Blessing: May you be an embodiment of all attainments and finish all name and trace of sorrow and peacelessness with your spiritual intoxication.
To have spiritual intoxication means to see souls while walking and moving around and to be soul conscious. By having this intoxication you experience all attainments. All sorrow is removed from a soul who is an embodiment of attainments and has spiritual intoxication. There is then no name or trace of sorrow or peacelessness because sorrow and peacelessness arise from impurity. Where there is no impurity, how could there be sorrow or peacelessness? Pure souls have natural happiness and peace within them.
Slogan: Those who are constantly absorbed in the love of One are free from obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 August 2018

To Read Murli 30 August 2018 :- Click Here
31-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपनी स्थिति साक्षी तथा हर्षित रखने के लिए स्मृति में रहे कि हर आत्मा का अपना-अपना पार्ट है, बनी बनाई बन रही”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस एक पुरुषार्थ द्वारा अपनी अवस्था जमा सकते हो?
उत्तर:- माया के तूफानों को डोन्टकेयर करो और बाप जो श्रीमत देते हैं उसे कभी भी डोन्टकेयर न करो, इससे तुम्हारी अवस्था अचल-अडोल हो जायेगी, स्थिति सदा साक्षी और हर्षित रहेगी। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिए जो कभी भी रोना न आये। अम्मा मरे तो भी हलुआ खाना…..।
गीत:- तुम्हीं हो माता, पिता तुम्हीं हो….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। अक्सर करके भक्ति मार्ग वाले मन्दिरों में जाते हैं, चाहे शिव के, चाहे लक्ष्मी-नारायण के, चाहे राधे-कृष्ण के या अन्य देवी-देवताओं के मन्दिरों में जायेंगे। सबके आगे यही महिमा करेंगे – त्वमेव माता-च-पिता….. फिर कहते हैं – त्वमेव विद्या द्रविणम्…… माना तुम मात-पिता भी हो, पढ़ाने वाले भी हो। वास्तव में लक्ष्मी-नारायण वा राम-सीता को त्वमेव माता-च-पिता नहीं कहेंगे क्योंकि उन्हों को तो अपने ही बच्चे होंगे। वह ऐसी महिमा नहीं गायेंगे। वास्तव में महिमा एक शिव की है। वह महिमा गाते हैं देव-देव महादेव। माना तुम ब्रह्मा, विष्णु, शंकर से भी ऊंच हो। भक्ति मार्ग में तो कोई अर्थ समझ न सके। अब बाप कहते हैं तुमने भक्ति बहुत की है, अब तुम मेरे से समझो और इस पर गौर करो कि सच क्या है, झूठ क्या है? तुम बच्चे अब समझते हो – बाप के बारे में और देवताओं के बारे में जो भी महिमा करते हैं वह सारी रांग है। अभी जो तुमको मैं समझाता हूँ वही राइट है।

बच्चों को समझाते हैं यह उल्टा वृक्ष है, इसका बीज है परमपिता परमात्मा। वह ऊपर में रहते हैं। वह तो चैतन्य बीज है ना। तुम ठहरे बच्चे। कई कहते हैं कि सब बीज आदि में भी आत्मा है। लेकिन वह तो जड़ है ना। बाप को कहा ही जाता है मनुष्य सृष्टि का चैतन्य बीजरूप। अब मनुष्य गाते हैं – ओ गॉड फादर। अच्छा, झाड़ को तुम चैतन्य ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। मनुष्य में यह ज्ञान है कि यह बीज है। बीज में जरूर झाड़ का ज्ञान होना चाहिए। परन्तु जड़ होने के कारण बता नहीं सकते। मनुष्य तो समझ जाते हैं कि बीज नीचे है, उनसे झाड़ निकला हुआ है। कल्प वृक्ष और बनेन ट्री की भेंट करते हैं। वह जड़ है, यह चैतन्य है। कलकत्ते में बड़ का बहुत बड़ा झाड़ है। उनका थुर सारा निकल गया है, सिर्फ झाड़ खड़ा है। फाउण्डेशन है नहीं, वन्डर है ना। बाप समझाते हैं इस झाड़ का भी फाउण्डेशन है नहीं। देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो गया है, बाकी सारा झाड़ खड़ा है। कितने मठ-पंथ हैं! यह है बेहद का झाड़। बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। बाबा लिखते भी हैं शिवबाबा का बर्थ डे हीरे जैसा है क्योंकि शिवबाबा ही कौड़ी से हीरे जैसा बनाते हैं, स्वर्ग बनाते हैं। अभी तो भारत कितना कंगाल बन गया है। मनुष्य हम सो, सो हम कहते हैं परन्तु समझते तो कुछ नहीं। हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो आत्मा – यह ढिंढोरा सन्यासियों ने पिटवाया है। तुम अर्थ सहित जानते हो। हम सो ब्राह्मण बने हैं फिर हम सो देवता बनेंगे फिर हम सो क्षत्रिय….. वर्ण में आयेंगे। आत्मा कहती है हम इन वर्णों में जायेंगे। हम शूद्र थे, अभी हम ब्राह्मण कुल में आये हैं। परमपिता परमात्मा ही सबको रचने वाला है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देवताओं को भी रचने वाला वह है। अभी बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। तुम कहते हो त्वमेव माता-च-पिता…. तो माता भी यह बरोबर है। बाप बैठ बच्चों को बहलाते हैं। भक्ति मार्ग में मीरा भक्तिन थी। वह है भक्त माला। ज्ञान माला भी है। ज्ञान माला का नाम है रुद्र माला। रावण माला नहीं कहेंगे। रावण की भक्ति तो नहीं करते। राम माला है। भल अभी रावण राज्य है परन्तु रावण की माला नहीं होती। भक्त माला होती है, असुरों की माला तो नहीं होती। भक्त शिरोमणी में एक तो मीरा है उनको कृष्ण का साक्षात्कार होता था। लोक लाज सारी खोई थी। सेकेण्ड नम्बर में शिरोमणी भक्त कौन है? नारद। हाँ, उनका गायन है, दृष्टान्त दिया जाता है। यह तो सब बातें बैठ बनाई हैं। रीयल नहीं है।

बाप कहते हैं कि मेल-फीमेल सब सीतायें हैं। सब रावण की शोकवाटिका में है। लंका की बात नहीं, भारत की ही बात है। एक ही बाप सर्व का सद्गति दाता है। वह एक न हो तो भारत कुछ काम का नहीं है। सबसे जास्ती पतित और सबसे जास्ती पावन भारत ही बनता है। भारत ही सबसे बड़ा तीर्थ स्थान है। भल अपने-अपने पैगम्बरों के तीर्थों पर जाते हैं परन्तु सबका सद्गति दाता एक बाप है। भारत ही अविनाशी खण्ड है। बाप कहते हैं मैं यहाँ आकर भारत को जीवनमुक्ति देता हूँ, बाकी सबको मुक्ति देता हूँ, सबका सद्गति दाता मैं हूँ। सचखण्ड स्थापन करने वाला बाप एक ही है। सचखण्ड में राज्य करने के लिए बच्चों को लायक बनाते हैं, खुद राज्य नहीं करते। बाप बैठ समझाते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ भारत को सद्गति देने। बाकी सबको गति में वापस ले जाता हूँ। हर एक मनुष्य मात्र की जो आत्मा है, हर एक में अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। इसको कहा जाता है बनी बनाई बन रही….. समझो, किसका बाप मर गया, उसने जाकर दूसरा जन्म लिया, अब रोने से क्या होगा? साक्षी होकर देखना है। यह ड्रामा है, इसमें रोने की दरकार नहीं है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। अम्मा मरे तो भी हलुआ खाओ, बीबी मरे तो भी हलुआ खाओ। यह उन्हों के लिए है जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिए जो कुछ भी दु:ख न हो। बेहद के बाप को याद करते रहना है। इतनी अडोल अवस्था होनी चाहिए जैसे अंगद को रावण हिला नहीं सका। माया है बड़ी जबरदस्त। तुम स्थेरियम रहते हो। माया के कितने भी तूफान लगे, डोंटकेयर, घबराना नहीं है, फंक नहीं होना है। पुरुषार्थ करके अवस्था को जमाना है। बातें तो बहुत अच्छी समझाते हैं। तुम समझते हो हम पार्वतियां हैं, शिवबाबा अमरकथा सुनाते हैं। अमरलोक में है आदि-मध्य-अन्त सुख। इस मृत्युलोक में तो आदि-मध्य-अन्त दु:ख ही दु:ख है। त्योहार आदि सब इस समय के हैं। लक्ष्मी-नारायण आदि का कोई त्योहार नहीं। वह क्या सर्विस करते हैं। तुम ब्राह्मण बहुत सर्विस करते हो। देवताओं की आत्मा को सोशल वर्कर नहीं कहेंगे – न जिस्मानी, न रूहानी। तुम हो रूहानी-जिस्मानी डबल सोशल वर्कर।

अच्छा, मनुष्यों को नष्टोमोहा बनने में मेहनत लगती है क्योंकि उनके पास कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। यहाँ तो तुमको प्राप्ति बहुत है तो बहुत नष्टोमोहा होना चाहिए ना। एक बाबा के साथ योग लगाना है – बाबा, ओ मीठे-मीठे बाबा, आपको हमने पूरा जान लिया है, आगे तो सिर्फ कहने मात्र गॉड फादर कहते थे, अभी तो आप आये हो फिर से स्वर्ग की राजाई देने, यह कलियुग तो कब्रिस्तान होने वाला है इसलिए हम इसको क्यों याद करें। बाप कहते हैं इस कब्रिस्तान में, गृहस्थ व्यवहार में रहते मुझे याद करो। यह तो बहुत सहज है। जैसे भक्ति मार्ग में मनुष्य कृष्ण की पूजा करते रहते हैं, बुद्धि धन्धे धोरी में भागती रहती है। मन का घोड़ा कहाँ न कहाँ भागता रहेगा, तवाई के मुआफिक। बाप कहते हैं कि शरीर निर्वाह करते बुद्धि का योग मेरे साथ लगाओ। मेरी याद से तुम्हें बहुत प्राप्ति होगी। और सबसे तो अल्पकाल की प्राप्ति होती है। कितनी नौधा भक्ति की, अच्छा, फिर क्या हुआ? साक्षात्कार किया, बस ना। मुक्ति-जीवन-मुक्ति तो नहीं मिली। अब बाप कहते हैं कि तुम 21 जन्मों के लिए विश्व के मालिक बनते हो। स्वर्ग में गर्भ भी महल होता है। यहाँ तो गर्भ जेल है। कृष्ण जन्माष्टमी आदि का तुमको कुछ भी मनाना करना नहीं है। तुमको सिर्फ समझाना है कि कृष्ण का जन्म कब हुआ? कृष्ण अभी कहाँ है? तुम जानते हो अभी हम कृष्णपुरी का मालिक बनने के लिए पढ़ रहे हैं। बाप के पास बैठे हैं। बाप को हाथ जोड़े जाते हैं क्या? टीचर पढ़ाते हैं तो क्या उनको हाथ जोड़ना होता है, महिमा करनी होती है? टीचर से तो पढ़ना है। बच्चे बाप को घड़ी-घड़ी हाथ जोड़ते हैं क्या? इस समय तो तुम घर में हो। तुमको भासना आती है यह बाप भी है, पतित-पावन भी है। इस समय 5 विकारों का ग्रहण लगने के कारण तुम बिल्कुल ही काले बन गये हो। 5 विकारों ने काला कर दिया है। सतयुग में तुम गोरे सुन्दर थे, अभी श्याम हो। श्रीकृष्ण सुन्दर था, अभी श्याम है। कितने बारी श्याम और सुन्दर बना होगा! कंसपुरी ही कृष्णपुरी बन जाती है। कृष्णपुरी फिर कंसपुरी बन जाती है।

तुम आत्मायें ही तो ब्रह्माण्ड की रहने वाली हो। ब्रह्म तत्व कहा जाता है। अहम् ब्रह्म कहना भी भ्रम है। तुम ब्रह्माण्ड के मालिक हो। तुम्हारा सिंहासन ब्रह्माण्ड है। बाप कहते हैं मैं तो ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ ही। तुम आत्मायें भी कहती हो – हमारा देश वास्तव में ब्रह्माण्ड है। वहाँ तुम्हारी आत्मायें पवित्र हैं। तुम ब्रह्माण्ड के मालिक हो तो फिर विश्व के भी मालिक हो। मैं तो सिर्फ ब्रह्माण्ड का ही मालिक हूँ। मुझे इस पुराने तन में आना पड़ता है, जिसने पूरे 84 जन्म लिए हैं। बच्चों को मुरली अच्छी तरह 5-6 बार पढ़ना वा सुनना चाहिए तब ही बुद्धि में बैठेगी और खुशी का पारा चढ़ेगा। माया घड़ी-घड़ी याद भुला देती है। इसमें कोई हठ आदि करने की बात नहीं। फुर्सत मिली, अच्छा, बाबा को याद करना है कछुए मिसल। सबसे अच्छा है – अमृतवेले का टाइम। उसका असर सारे दिन रहेगा। यह भी बच्चों को समझाया गया है कि पहले खिलाने वाले को खिलाकर फिर खाना है। शिवबाबा के यज्ञ से खाते हैं तो पहले उनको भोग लगाना पड़े। यह सब सूक्ष्मवतन में साक्षात्कार होते हैं। ड्रामा में नूंध है। तुमको भोग लगाना है शिवबाबा को। वह तो निराकार है। गाया भी जाता है देवताओं के लिए – उनको ब्रह्मा भोजन की आश थी क्योंकि तुम ब्रह्मा भोजन खाकर ब्राह्मण से देवता बनते हो। सूक्ष्मवतन में देवतायें आते हैं, महफिल लगती है, यह सब खेल-पाल है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में पूरी एम ऑब्जेक्ट रख नष्टोमाहा बनना है। इस कब्रिस्तान को भूल बाप को याद करना है। रूहानी जिस्मानी सेवा करनी है।

2) खिलाने वाले को खिलाकर फिर खाना है। अमृतवेले का समय अच्छा है इसलिए उस समय उठकर बाप को याद करना है। मुरली 5-6 बार सुननी वा पढ़नी जरूर है।

वरदान:- रूहानी नशे द्वारा दु:ख-अशान्ति के नाम निशान को समाप्त करने वाले सर्व प्राप्ति स्वरूप भव
रूहानी नशे में रहना अर्थात् चलते-फिरते आत्मा को देखना वा आत्म-अभिमानी रहना। इस नशे में रहने से सर्व प्राप्तियों का अनुभव होता है। प्राप्ति स्वरूप रूहानी नशे में रहने वाली आत्मा के सब दुख दूर हो जाते हैं। दुख-अशान्ति का नाम निशान भी नहीं रहता क्योंकि दुख और अशान्ति की उत्पत्ति अपवित्रता से होती है। जहाँ अपवित्रता नहीं वहाँ दु:ख अशान्ति कहाँ से आई! जो पावन आत्मायें हैं उनके पास सुख और शान्ति स्वत: ही है।
स्लोगन:- जो सदा एक की लगन में मगन हैं वही निर्विघ्न हैं।
Font Resize