daily murli 30 september

TODAY MURLI 30 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 September 2020

30/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, first of all, be concerned about: I, a soul am covered in rust, and think how to remove the rust from the soul. For as long as the needle is rusty, the Magnet will not be able to attract it.
Question: What effort do you children have to make at the most elevated confluence age in order to become the most elevated human beings?
Answer: The effort to become karmateet. Your intellects should not be pulled by any karmic relationships. This means that no karmic bondage should pull you. Your total connection should be with the one Father. Your hearts should not be attached to anyone. Make such effort. Don’t waste your time in gossiping. Practise staying in remembrance.
Song: Awaken o brides! Awaken! The new age is about to come!

Om shanti. You spiritual children, you souls, heard the song through your bodies. The Father is now making you children soul conscious. You are receiving knowledge of souls. Not a single person in the world has true knowledge of souls. So, how could they have knowledge of the Supreme Soul? Only the Father sits and explains this. It has to be through a body that this is explained to you. A soul cannot do anything without a body. You souls know where you reside and whose children you are. You now know this accurately. All actors have a part. Your intellects know when the souls of different religions come here. The Father doesn’t explain to you the details. He explains everything wholesale. “Wholesale” means that He gives you such an explanation in just a second that you know everything about how your parts are recorded from the beginning of the golden age to the end. You now know who the Father is and what His part is in this drama. You also know that the Father is the Highest on High. He is the Bestower of Salvation for All, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The birthday of Shiva is remembered. It can definitely be said that the birthday of Shiva is the highest of all. It is especially in Bharat that people celebrate His birthday. Stamps are made of elevated beings who have a good history in their country. Now, they celebrate the birth of Shiva. It should be explained whose birth is the most elevated. Whose stamp should be created? They make stamps of sages and holy men and of Sikh, Muslim and English philosophers, just as they made a stamp of King Rana Pratap. In fact, there should be a stamp of the Father who is the Bestower of Salvation for All. If the Father didn’t come at this time, how could there be salvation? Everyone is floundering in the extreme depths of hell. The Highest on High is Shiv Baba, the Purifier. There are many temples to Shiva built in high places because He is the Highest on High. The Father comes Himself and makes you people of Bharat into the masters of heaven. He grants salvation when He comes. Therefore, there should be remembrance of that Father. You should think about what type of stamp to create of Shiv Baba. On the path of devotion, they create a lingam as His image. He is the highest-on-high soul. The highest-on-high temple is considered to be that of Shiva. Somnath (the Lord of Nectar) is the temple to Shiva. Because the people of Bharat are tamopradhan, they don’t know who Shiva is. They don’t know the occupation of the One whom they worship. King Rana Pratap battled, but that was violence. At this time, all are doubly violent. To indulge in vice, to use the sword of lust, is also violence. It is Lakshmi and Narayan who are doubly non-violent. If people had the full knowledge, they could create stamps that are meaningful. In the golden age, they have stamps of only Lakshmi and Narayan. They don’t have any knowledge of Shiv Baba there. Therefore, the stamps would definitely be those of the most elevated Lakshmi and Narayan. Even now, there should be that same stamp of Bharat. The Highest on High is Trimurti Shiva. His stamp should remain eternally because He gives the imperishable throne of the kingdom to Bharat. The Supreme Father, the Supreme Soul, makes Bharat into heaven. Among you too, there are many who forget that Baba is making us into the masters of heaven. Maya makes you forget this. Because of not knowing the Father, the people of Bharat have been making many mistakes. No one knows what Shiv Baba does. They don’t even understand the meaning of Shiva Jayanti. No one except the Father has this knowledge. The Father is now telling you children: Have mercy for others, as well as for yourselves. The Teacher is teaching you. This is His mercy for you. That One says: I am the Teacher and am teaching you. In fact, this place should not be called a pathshala (place of study), because this is a very big University. All the rest have false names. None of those colleges are for the whole universe. Only this University is of the one Father who grants salvation to the whole world. In fact, there is only this one University and it is through this that everyone passes into liberation and liberation-in-life. That is, they attain peace and happiness. This is the Universe. This is why Baba says: Don’t be afraid. This is something that has to be explained. It generally happens that no one listens to anyone during an emergency: it is the rule of the people by the people. In no other religion do they have a kingdom from the start. Those people simply come to establish their religions. They rule their kingdoms when there are hundreds of thousands of their own religion. Here, the Father is establishing a kingdom for the whole Universe. This is something to be explained. He is establishing the deity kingdom at this most elevated confluence age. Baba has explained to you that you can carry the dark blue pictures of Krishna, Narayan and Rama in your hands and explain why Krishna is called Shyam and Sundar. He was beautiful, so how did he become ugly? Bharat was heaven and it is now hellHell means ugly and heaven means beautiful. The kingdom of Rama is called the day and the kingdom of Ravan is called the night. So, you can explain to them why the deities have been portrayed as dark blue. The Father sits here and explains that you are now at the most auspicious confluence age whereas others are not. You are sitting here now at the confluence age and are making effort to become the most elevated. You have no connection with vicious impure human beings. You have not yet reached your karmateet stage and this is why your hearts become attached to karmic relationships. In order to become karmateet you need the pilgrimage of remembrance. The Father says: You are souls and you should have so much love for the Supreme Father. Oho! Baba is teaching us! No one has that enthusiasm. Maya repeatedly makes you body conscious. Since you understand that Shiv Baba is talking to you souls, there should be that attraction and happiness, should there not? A needle that doesn’t have the slightest rust will very quickly be attracted to a magnet. If there is even a little rust, the needle won’t be pulled; there won’t be that attraction. A magnet will pull a needle where there isn’t any rust. You children can only have that attraction when you stay on the pilgrimage of remembrance. If there is any rust, the needle can’t be pulled. Each of you needles can understand that you will be attracted when you become completely pure. There isn’t that pull because you souls are covered in rust. When you stay in remembrance a great deal your sins can be burnt away. Achcha, if someone commits sin now, he accumulates one hundred-fold punishment and that soul becomes rusty. That soul will then be unable to remember the Father. Consider yourselves to be souls and remember the Father. When souls forget to have remembrance, they become rusty and this is why there isn’t that pull or love. Once the rust is removed, there will be love and happiness too; your faces will remain very cheerful. You have to become like them in the future. If you don’t do service, you continue to talk about all the old rotten things of the past. This breaks your intellect’s yoga away from the Father. Any sparkle that there might have been also disappears. There isn’t the slightest love for the Father. Only those who have very good remembrance of the Father would have love for Him. The Father is also attracted to such a child: This child does very good service and also stays in yoga. So, the Father showers that child with love. Such a child would pay attention to himself to make sure he doesn’t commit any sin. If you don’t remember the Father, how can the rust be removed? The Father says: Keep your charts so that the rust can be removed. If you want to become satopradhan from tamopradhan, you have to remove the rust. Some rust is removed, but souls then become rusty again and there is one hundred-fold punishment. When you don’t remember the Father, you commit one sin or another. The Father says: Unless the rust is removed, you will be unable to come to Me. There will then have to be punishment. Souls experience the slipper and their status is also destroyed. What inheritance would you receive from the Father then? Don’t perform any such acts that make the soul even more rusty. First of all, be concerned about removing the rust from yourself. If you don’t think about this, the Father understands that it is not in your fortune. You must have that qualification. One has to have a good character. The characters of Lakshmi and Narayan are remembered. People of today speak of their own characters in front of the Lakshmi and Narayan idols they don’t know Shiv Baba at all. Only He grants salvation. They go to the sannyasis, but the Bestower of Salvation for All is only the One. The Father establishes heaven and you then have to go down. No one but the Father can purify you. Sannyasis make a small trench and sit in that. If they went into the Ganges instead, they would become cleansed, because they consider the Ganges to be the Purifier. People want peace, but their parts will only finish at the end when they go home. The home of us souls is the land beyond sound (Nirvandham). How can there be peace here? People do tapasya. They also have to acts, do they not? They do that and sit in silence. They don’t know Shiv Baba at all. All of that belongs to the path of devotion. There is only this one most elevated confluence age when the Father comes here. Souls become clean and then go into liberation and liberation-in-life. Those who make effort will then rule. However, those who don’t make any effort will experience punishment. In the beginning, you were given visions of punishment. At the end too you will have visions. You will see how you didn’t follow shrimat and what your condition has become. You children have to become benefactors. Give the introduction of the Father and creation. When a needle is soaked in paraffin, the rust is removed. So, rust is removed from the soul too by staying in remembrance of the Father. Otherwise, it means there is no attraction or love for the Father. All the love is diverted towards friends and relatives etc. People go and stay with their friends and relatives. There is such a vast difference between the company of those who are rusty and the company you have here. By keeping the company of anyone rusty, you become rusty yourself. The Father comes simply to remove the rust. It is only by having remembrance of Him that you will become pure. You souls have been covered with a lot of rust for half the cycle. The Father, the Magnet, says: Now remember Me. The more yoga your intellects have with Me, the more the rust on you souls will accordingly be removed. The new world has to be created. First, there is a very small tree of the deities in the golden age. Then, it grows larger. They come to you here and continue to make effort. No one of your kingdom comes from up above. Those of other religions come from up above. Your kingdom is being prepared here. Everything depends on how you study. Everything depends on how much you follow the Father’s shrimat. When your intellects yoga is diverted outside, you souls become rusty. Before coming here, they have settled all their karmic accounts, died alive and settled everything. Sannyasis renounce everything and yet they remember everything for such a long time afterwards. You children know that you have now received the company of the Truth. Tell them: We stay in remembrance of the Father. We do know (have connection) our friends and relatives. We live at home with our families and do things and also remember the Father. You have to become pure and also teach others. Then, if it is in their fortune, they continue to follow this path. If they don’t belong to the Brahmin clan, how could they go into the deity clan? You are given very easy points which can instantly sit in someone’s intellect. The picture of those with intellects that have no love at the time of destruction is also very clear. You no longer have sovereignty. When there was the deity sovereignty, that was called heaven. However, there is now the rule of the people by the people. There is nothing wrong in explaining these things. However, it is only when your rust is removed that your arrow can strike someone. First of all, make effort to remove the rust. You have to check your character and see what you are doing day and night. While cooking and making chappatis in the kitchen, stay in as much remembrance as possible. When you go touring, stay in remembrance. The Father knows everyone’s stage. When you souls gossip, you become even more rusty. Don’t listen to gossip. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father, in the form of the Teacher, teaches you and has mercy for everyone, in the same way, have mercy for yourself and others. Pay full attention to studying and following shrimat. Reform your character.
  2. Don’t break your intellect’s yoga away from the Father by gossiping among yourselves about useless, rotten things of the past. Do not perform any sinful acts. Stay in remembrance and remove the rust.
Blessing: May you be a conqueror of matter and make all the powers co-operate with you and work under your orders.
The greatest servant of all is matter. The children who receive the blessing of being conquerors of matter have all powers and matter working under their orders as their servant. They co-operate at any time of need. However, if instead of being a conqueror of matter, you waste your time sleeping in carelessness, in the intoxication of having temporary attainments or being intoxicated in some dance of waste thoughts, then the powers cannot work under your orders. Therefore, check: First of all, the main powers – the power to think, the power to decide and the power of sanskars – are all three in order?
Slogan: Continue to sing praise of BapDada and you will become an embodiment of virtues.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

30-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – सबसे पहले-पहले यही ख्याल करो कि मुझ आत्मा पर जो कट चढ़ी हुई है, वह कैसे उतरे, सुई पर जब तक कट (जंक) होगी तब तक चुम्बक खींच नहीं सकता”
प्रश्नः- पुरूषोत्तम संगमयुग पर तुम्हें पुरूषोत्तम बनने के लिए कौन-सा पुरूषार्थ करना है?
उत्तर:- कर्मातीत बनने का। कोई भी कर्म सम्बन्धों की तरफ बुद्धि न जाए अर्थात् कर्मबन्धन अपने तरफ न खीचे। सारा कनेक्शन एक बाप से रहे। कोई से भी दिल लगी हुई न हो। ऐसा पुरूषार्थ करो, झरमुई झगमुई में अपना टाइम वेस्ट मत करो। याद में रहने का अभ्यास करो।
गीत:- जाग सजनियाँ जाग……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों (आत्माओं) ने शरीर द्वारा गीत सुना? क्योंकि बाप अभी बच्चों को आत्म-अभिमानी बना रहे हैं। तुमको आत्मा का भी ज्ञान मिलता है। दुनिया में एक भी मनुष्य नहीं, जिसको आत्मा का सही ज्ञान हो। तो फिर परमात्मा का ज्ञान कैसे हो सकता? यह बाप ही बैठ समझाते हैं। समझाना शरीर के साथ ही है। शरीर बिगर तो आत्मा कुछ कर नहीं सकती। आत्मा जानती है हम कहाँ के निवासी हैं, किसके बच्चे हैं। अभी तुम यथार्थ रीति जानते हो। सब एक्टर्स पार्टधारी हैं। भिन्न-भिन्न धर्म की आत्मायें कब आती हैं, यह भी तुम्हारी बुद्धि में है। बाप डिटेल नहीं समझाते हैं, मुट्टा (होलसेल) समझाते हैं। होलसेल अर्थात् एक सेकण्ड में ऐसी समझानी देते हैं जो सतयुग आदि से लेकर अन्त तक मालूम पड़ जाता है कि कैसे हमारा पार्ट नूंधा हुआ है। अभी तुम जानते हो बाप कौन है, उनका इस ड्रामा के अन्दर क्या पार्ट है? यह भी जानते हैं ऊंच ते ऊंच बाप है, सर्व का सद्गति दाता, दु:ख हर्ता सुख कर्ता है। शिव जयन्ती गाई हुई है। जरूर कहेंगे शिव जयन्ती सबसे ऊंच है। खास भारत में ही जयन्ती मनाते हैं। जिस-जिस की राजाई में जिस ऊंच पुरुष की पास्ट की हिस्ट्री अच्छी होती है तो उनकी स्टैम्प भी बनाते हैं। अब शिव की जयन्ती भी मनाते हैं। समझाना चाहिए सबसे ऊंच जयन्ती किसकी हुई? किसकी स्टैम्प बनानी चाहिए? कोई साधू-सन्त अथवा सिक्खों का, मुसलमानों का वा अंग्रेजों का, कोई फिलॉसाफर अच्छा होगा तो उनकी स्टैम्प बनाते रहते हैं। जैसे राणा प्रताप आदि की भी बनाते हैं। अब वास्तव में स्टैम्प होनी चाहिए बाप की, जो सबका सद्गति दाता है। इस समय बाप न आये तो सद्गति कैसे हो क्योंकि सब रौरव नर्क में गोता खा रहे हैं। सबसे ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा, पतित-पावन। मन्दिर भी शिव के बहुत ऊंचे स्थान पर बनाते हैं क्योंकि ऊंच ते ऊंच है ना। बाप ही आकर भारत को स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। जब वह आते हैं तब सद्गति करते हैं। तो उस बाप की ही याद रहनी चाहिए। स्टैम्प भी शिवबाबा की कैसे बनायें? भक्ति मार्ग में तो शिवलिंग बनाते हैं। वही ऊंच ते ऊंच आत्मा ठहरे। ऊंच ते ऊंच मन्दिर भी शिव का ही मानेंगे। सोमनाथ शिव का मन्दिर है ना। भारतवासी तमोप्रधान होने कारण यह भी नहीं जानते कि शिव कौन है जिसकी पूजा करते हैं, उसका आक्यूपेशन तो जानते नहीं। राणा प्रताप ने भी लड़ाई की, वह तो हिंसा हो गई। इस समय तो सब हैं डबल हिंसक। विकार में जाना, काम कटारी चलाना यह भी हिंसा है ना। डबल अहिंसक तो यह लक्ष्मी-नारायण हैं। मनुष्यों को जब पूरा ज्ञान हो तब अर्थ सहित स्टैम्प निकले। सतयुग में स्टैम्प निकलती ही इन लक्ष्मी-नारायण की है। शिवबाबा का ज्ञान तो वहाँ रहता नहीं तो जरूर ऊंच ते ऊंच लक्ष्मी-नारायण की ही स्टैम्प लगती होगी। अभी भी भारत का वह स्टैम्प होना चाहिए। ऊंच ते ऊंच है त्रिमूर्ति शिव। वह तो अविनाशी रहना चाहिए क्योंकि भारत को अविनाशी राज-गद्दी देते हैं। परमपिता परमात्मा ही भारत को स्वर्ग बनाते हैं। तुम्हारे में भी बहुत हैं जो यह भूल जाते हैं कि बाबा हमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। यह माया भुला देती है। बाप को न जानने के कारण भारतवासी कितनी भूलें करते आये हैं। शिवबाबा क्या करते हैं, यह किसको भी पता नहीं है। शिवजयन्ती का भी अर्थ नहीं समझते। यह नॉलेज सिवाए बाप के और कोई को नहीं है।

अभी तुम बच्चों को बाप समझाते हैं तुम औरों पर भी रहम करो, अपने ऊपर भी आपेही रहम करो। टीचर पढ़ाते हैं, यह भी रहम करते हैं ना। यह भी कहते हैं मैं टीचर हूँ। तुमको पढ़ाता हूँ। वास्तव में इसका नाम पाठशाला भी नहीं कहेंगे। यह तो बहुत बड़ी युनिवर्सिटी है। बाकी तो सब हैं झूठे नाम। वह कोई सारे युनिवर्स के लिए कॉलेज तो हैं नहीं। तो युनिवर्सिटी है ही एक बाप की, जो सारे विश्व की सद्गति करते हैं। वास्तव में युनिवर्सिटी यह एक ही है। इन द्वारा ही सब मुक्ति-जीवनमुक्ति में जाते हैं अर्थात् शान्ति और सुख को प्राप्त करते हैं। युनिवर्स तो यह हुआ ना, इसलिए बाबा कहते हैं डरो मत। यह तो समझाने की बात है। ऐसे भी होता है इमर्जेन्सी के टाइम में कोई किसकी सुनते भी नहीं हैं। प्रजा का प्रजा पर राज्य चलता है और किसी धर्म में शुरू से राजाई नहीं चलती। वह तो धर्म स्थापन करने आते हैं। फिर जब लाखों की अन्दाज में हों तब राजाई कर सकें। यहाँ तो बाप राजाई स्थापन कर रहे हैं – युनिवर्स के लिए। यह भी समझाने की बात है। दैवी राजधानी इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर स्थापन कर रहे हैं। बाबा ने समझाया है-कृष्ण, नारायण, राम आदि के काले चित्र भी तुम हाथ में उठाओ फिर समझाओ कृष्ण को श्याम-सुन्दर क्यों कहते हैं? सुन्दर था फिर श्याम कैसे बनते हैं? भारत ही हेविन था, अब हेल है। हेल अर्थात् काला, हेविन अर्थात् गोरा। राम राज्य को दिन, रावण राज्य को रात कहा जाता है। तो तुम समझा सकते हो-देवताओं को काला क्यों बनाया है। बाप बैठ समझाते हैं – तुम हो अभी पुरूषोत्तम संगमयुग पर। वह नहीं है, तुम तो यहाँ बैठे हो ना। यहाँ तुम हो ही संगमयुग पर, पुरूषोत्तम बनने का पुरूषार्थ कर रहे हो। विकारी पतित मनुष्यों से तुम्हारा कोई कनेक्शन ही नहीं है, हाँ, अभी कर्मातीत अवस्था नहीं हुई है इसलिए कर्म सम्बन्धों से भी दिल लग जाती है। कर्मातीत बनना उसके लिए चाहिए याद की यात्रा। बाप समझाते हैं तुम आत्मा हो, तुम्हारा परमात्मा बाप के साथ कितना लव होना चाहिए। ओहो! बाबा हमको पढ़ाते हैं। वह उमंग कोई में रहता नहीं है। माया घड़ी-घड़ी देह-अभिमान में ला देती है। जबकि समझते हो शिवबाबा हम आत्माओं से बात कर रहे हैं, तो वह कशिश, वह खुशी रहनी चाहिए ना। जिस सुई पर ज़रा भी जंक नहीं होगी, वह चुम्बक के आगे तुम रखेंगे तो फट से चटक जायेगी। थोड़ी भी कट होगी तो चटकेगी नहीं। कशिश नहीं होगी। जहाँ से नहीं होगी फिर उस तरफ से चुम्बक खीचेंगे। बच्चों में कशिश तब होगी जब याद की यात्रा पर होंगे। कट होगी तो खींच नहीं सकेंगे। हर एक समझ सकते हैं हमारी सुई बिल्कुल पवित्र हो जायेगी तो कशिश भी होगी। कशिश नहीं होती है क्योंकि कट चढ़ी हुई है। तुम बहुत याद में रहते हो तो विकर्म भस्म होते हैं। अच्छा, फिर अगर कोई पाप करते तो वह सौगुणा दण्ड हो जाता है। कट चढ़ जाती है, याद नहीं कर सकते। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, याद भूलने से कट चढ़ जाती है। तो वह कशिश, लव नहीं रहता। कट उतरी हुई होगी तो लव होगा, खुशी भी रहेगी। चेहरा खुशनुम: रहेगा। तुमको भविष्य में ऐसा बनना है। सर्विस नहीं करते तो पुरानी सड़ी हुई बातें करते रहते। बाप से बुद्धियोग ही तुड़ा देते हैं। जो कुछ चमक थी, वह भी गुम हो जाती है। बाप से ज़रा भी लव नहीं रहता। लव उनका रहेगा जो अच्छी रीति बाप को याद करते होंगे। बाप को भी उनसे कशिश होगी। यह बच्चा सर्विस भी अच्छी करता है और योग में रहता है। तो बाप का प्यार उन पर रहता है। अपने ऊपर ध्यान रखते हैं, हमसे कोई पाप तो नहीं हुआ। अगर याद नहीं करेंगे तो कट कैसे उतरेगी। बाप कहते हैं चार्ट रखो तो कट उतर जायेगी। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है तो कट उतरनी चाहिए। उतरती भी है फिर चढ़ती भी है। सौ गुणा दण्ड पड़ जाता है। बाप को याद नहीं करते हैं तो कुछ न कुछ पाप कर लेते हैं। बाप कहते हैं कट उतरने बिगर तुम मेरे पास आ नहीं सकेंगे। नहीं तो फिर सज़ा खानी पड़ेगी। मोचरा भी मिलता, पद भी भ्रष्ट हो जाता। बाकी बाप से वर्सा क्या मिला? ऐसा कर्म नहीं करना चाहिए जो और ही कट चढ़ जाए। पहले तो अपनी कट उतारने का ख्याल रखो। ख्याल नहीं करते हैं तो फिर बाप समझेंगे इनकी तकदीर में नहीं है। क्वालिफिकेशन चाहिए। अच्छे कैरेक्टर्स चाहिए। लक्ष्मी-नारायण के कैरेक्टर तो गाये हुए हैं। इस समय के मनुष्य उन्हों के आगे अपना कैरेक्टर वर्णन करते हैं। शिवबाबा को जानते ही नहीं, सद्गति करने वाला तो वही है, सन्यासियों के पास जाते हैं। परन्तु सर्व का सद्गति दाता है ही एक। बाप ही स्वर्ग की स्थापना करते हैं फिर तो नीचे ही उतरना है। बाप के सिवाए कोई पावन बना न सके। मनुष्य खड्डे के अन्दर जाकर बैठते हैं, इससे तो गंगा में जाकर बैठें तो साफ हो जाएं क्योंकि पतित-पावनी गंगा कहते हैं ना। मनुष्य शान्ति चाहते हैं तो वह जब घर जायेंगे तब पार्ट पूरा होगा। हम आत्माओं का घर है ही निवार्णधाम। यहाँ शान्ति कहाँ से आई? तपस्या करते हैं, वह भी कर्म करते हैं ना, करके शान्त में बैठ जायेंगे। शिवबाबा को तो जानते ही नहीं। वह सब है भक्ति मार्ग, पुरूषोत्तम संगमयुग एक ही है, जबकि बाप आते हैं। आत्मा स्वच्छ बन मुक्ति-जीवनमुक्ति में चली जाती है। जो मेहनत करेंगे वह राज्य करेंगे, बाकी जो मेहनत नहीं करेंगे वह सज़ायें खायेंगे। शुरू में साक्षात्कार कराया था, सज़ाओं का। फिर पिछाड़ी में भी साक्षात्कार होगा। देखेंगे हम श्रीमत पर न चले तब यह हाल हुआ है। बच्चों को कल्याणकारी बनना है। बाप और रचना का परिचय देना है। जैसे सुई को मिट्टी के तेल में डालने से कट उतर जाती है, वैसे बाप की याद में रहने से भी कट उतरती है। नहीं तो वह कशिश, वह लव बाप में नहीं रहता है। लव सारा चला जाता है मित्र-सम्बन्धियों आदि में, मित्र-सम्बन्धियों के पास जाकर रहते हैं। कहाँ वह जंक खाया हुआ संग और कहाँ यह संग। जंक खाई हुई चीज़ के संग में उनको भी कट चढ़ जायेगी। कट उतारने के लिए ही बाप आते हैं। याद से ही पावन बनेंगे। आधाकल्प से बड़ी ज़ोर से कट चढ़ी हुई है। अब बाप चुम्बक कहते हैं मुझे याद करो। बुद्धि का योग जितना मेरे साथ होगा उतनी कट उतरेगी। नई दुनिया तो बननी ही है, सतयुग में पहले बहुत छोटा-सा झाड़ होता है – देवी-देवताओं का, फिर वृद्धि को पाते हैं। यहाँ से ही तुम्हारे पास आकर पुरूषार्थ करते रहते हैं। ऊपर से कोई नहीं आते हैं। जैसे और धर्म वालों के ऊपर से आते हैं। यहाँ तुम्हारी राजधानी तैयार हो रही है। सारा मदार पढ़ाई पर है। बाप की श्रीमत पर चलने पर है, बुद्धियोग बाहर जाता रहता है, तो भी कट लग जाती है। यहाँ आते हैं तो सब हिसाब-किताब चुक्तू कर, जीते जी सब कुछ खत्म करके आते हैं। सन्यासी भी सन्यास करते हैं तो भी कितने समय तक सब याद आता रहता है।

तुम बच्चे जानते हो अभी हमको सत का संग मिलता है। हम अपने बाप की ही याद में रहते हैं। मित्र-सम्बन्धियों आदि को जानते तो हैं ना। गृहस्थ व्यवहार में रहते, कर्म करते बाप को याद करते हैं, पवित्र बनना है, औरों को भी सिखाना है। फिर तकदीर में होगा तो चल पड़ेंगे। ब्राह्मण कुल का ही नहीं होगा तो देवता कुल में कैसे आयेगा? बहुत सहज प्वाइंट्स दी जाती हैं, जो झट किसकी बुद्धि में बैठ जाएं। विनाश काले विपरीत बुद्धि वाला चित्र भी क्लीयर है। अब वह सावरन्टी तो है नहीं। दैवी सावरन्टी थी, जिसको स्वर्ग कहा जाता था। अभी तो पंचायती राज्य है, समझाने में कोई हर्जा नहीं है। परन्तु कट निकली हुई हो तो कोई को तीर लगे। पहले कट निकालने की कोशिश करनी चाहिए। अपना कैरेक्टर देखना है। रात-दिन हम क्या करते हैं? किचन में भी भोजन बनाते, रोटी पकाते जितना हो सके याद में रहो, घूमने जाते हो तो भी याद में। बाप सबकी अवस्था को तो जानते हैं ना। झरमुई-झगमुई करते हैं तो फिर कट और ही चढ़ जाती है। परचिंतन की कोई बात नहीं सुनो। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप टीचर रूप में पढ़ाकर सब पर रहम करते हैं, ऐसे अपने आप पर और औरों पर भी रहम करना है। पढ़ाई और श्रीमत पर पूरा ध्यान देना है, अपने कैरेक्टर सुधारने हैं।

2) आपस में कोई पुरानी सड़ी हुई परचिंतन की बातें करके बाप से बुद्धियोग नहीं तुड़ाना है। कोई भी पाप कर्म नहीं करना है, याद में रहकर जंक उतारनी है।

वरदान:- सर्व शक्तियों को आर्डर प्रमाण अपना सहयोगी बनाने वाले प्रकृति जीत भव
सबसे बड़े ते बड़ी दासी प्रकृति है। जो बच्चे प्रकृतिजीत बनने का वरदान प्राप्त कर लेते हैं उनके आर्डर प्रमाण सर्व शक्तियां और प्रकृति रूपी दासी कार्य करती है अर्थात् समय पर सहयोग देती हैं। लेकिन यदि प्रकृतिजीत बनने के बजाए अलबेलेपन की नींद में व अल्पकाल की प्राप्ति के नशे में व व्यर्थ संकल्पों के नाच में मस्त होकर अपना समय गंवाते हो तो शक्तियां आर्डर पर कार्य नहीं कर सकती इसलिए चेक करो कि पहले मुख्य संकल्प शक्ति, निर्णय शक्ति और संस्कार की शक्ति तीनों ही आर्डर में हैं?
स्लोगन:- बापदादा के गुण गाते रहो तो स्वयं भी गुणमूर्त बन जायेंगे।

TODAY MURLI 30 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 29 September 2019:- Click Here

30/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to follow shrimat constantly is the elevated effort. When you follow shrimat, the lamp of the soul is ignited.
Question: Who can make full effort? What is the highest effort?
Answer: Only those whose attentionthat is, whose yoga of the intellect is connected to One can make full effort. The highest effort of all is to surrender yourself to the Father fully. The Father very much loves the children who surrender themselves to Him.
Question: What advice does the unlimited Father give you to celebrate the true Deepawali?
Answer: Children, imbibe unlimited purity. When you become pure in an unlimited way here, when you make the highest effort, you will then be able to go to the kingdom of Lakshmi and Narayan, that is, you will be able to celebrate the true Deepawali which is the coronation day.

Om shanti. What are you children doing whilst sitting here? Whilst walking and moving around and whilst sitting here, the sins of many births that you have on your heads are being absolved by your remaining on the pilgrimage of remembrance. The soul knows that the more the soul remembers the Father, the more the sins are cut away. The Father has explained to you very well: Although you are sitting here, only those who follow shrimat would like the advice that the Father gives. You receive advice from the unlimited Father to become pure in an unlimited way. You have come here to become pure in an unlimited way and you will become that with the pilgrimage of remembrance. Some are not able to have any remembrance at all. Some understand that they are cutting away their sins with the pilgrimage of remembrance, that is, they are benefitting themselves. People outside do not know these things. Only you have found the Father. You stay with the Father. You know that you have now become the children of God, whereas previously, you were devilish children. You now keep the company of the children of God. It is sung: Good company takes you across and bad company drowns you. You children repeatedly forget that you are Godly children and that you should therefore only follow God’s directions and not your own dictates. Dictates of the mind are said to be human dictates. Human dictates can only be devilish. The children who want to benefit themselves continue to remember the Father very well in order to become satopradhan. Those who are satopradhan are praised. You know that you truly do become the masters of the land of happiness, numberwise. The more you follow shrimat, the higher the status you claim, whereas the more you follow your own dictates, accordingly, your status will be destroyed. You continue to receive the Father’s directions for your own benefit. The Father has explained that this is also effort. To the extent that you remember the Father, so your sins are cut away. Without staying on the pilgrimage of remembrance, you won’t be able to become pure. Whilst walking and moving around, just have this one concern. You children have been receiving these teachings for so many years, and yet you understand that you are very far away. You are unable to remember the Father that much. It will take a lot of time to become satopradhan. So, if in the middle of that, you shed your body, your status will be low for cycle after cycle. You now belong to God and so you should make effort to claim your full inheritance from Him. Your intellects should remain in only one direction. You now receive shrimat. He is God, the Highest on High. If you don’t follow His directions, you will be deceived a great deal. Only you, yourself, and Shiv Baba know whether you follow them or not. It is Shiv Baba who inspires you to make effort. All bodily beings make effort. This one is also a bodily being and Shiv Baba is inspiring him to make effort. It is you children who have to make effort. The main thing is to make impure ones pure. In the world, there are many who are pure. Sannyasis too remain pure, but they only become pure for one birth. There are many who have been celibate from birth in this life but they cannot help the world with purity. Help can only be given when you become pure according to shrimat and also make the world pure. You are now receiving shrimat. For birth after birth, you have been following devilish dictates. You now know that the land of happiness is being established. The more effort we make according to shrimat, the higher the status we will claim. These are not the directions of Brahma; he is an effort-maker. Their efforts are definitely very high. This is how they become Lakshmi and Narayan. Therefore, you children have to follow His directions. You have to follow shrimat and not the dictates of your own minds. You have to ignite the light of your soul. Deepawali is now coming, but there is no Deepawali in the golden age; there is just the coronation there. Souls will have become satopradhan. The Deepmala that is celebrated now is false. They ignite lamps outside, but lamps would be ignited there in every home, that is, every soul there is satopradhan. The poured oil of knowledge lasts for 21 births. Then, they gradually diminish, until now when the lights of the whole world are extinguished. In this, too, it is Bharat in particular and the whole world in general – all are now sinful souls. It is the time of settlement for everyone. Everyone has to settle their karmic accounts. You children now have to make effort to claim the highest-on-high status. You will only claim that by following shrimat. In the kingdom of Ravan, Shiv Baba has been disobeyed a lot. If, even now, you don’t obey His orders, you will be deceived a great deal. You have called out to Him to come and make you pure. So, now, in order to benefit yourself, you have to follow Shiv Baba’s shrimat. Otherwise, there will be a great loss. You sweetest children also know that you cannot become completely pure without having remembrance of Shiv Baba. You have been here for so many years but, in spite of that, why are you unable to imbibe knowledge? Knowledge can only be imbibed in a golden vessel. New children become so serviceable. Look how much difference there is! Older children don’t stay on the pilgrimage of remembrance as much as the newer ones do. Many very good, beloved children of Shiv Baba come and do so much service. It is as though those souls have surrendered themselves to Shiv Baba. By surrendering themselves, they then also do so much service. They are so sweet and loving. They are helping the Father by staying on the pilgrimage of remembrance. The Father says: Remember Me and you will become pure. You called out to Me to come and purify you. Therefore, the Father says: Now continue to remember Me. You have to renounce all bodily relations. Even your friends and relatives should not be remembered – no one except the one Father. Only then will you be able to claim a high status. If you don’t have remembrance you won’t be able to claim a high status. BapDada can understand this. You children also understand. New ones who come realize that they are improving day by day. It is only by following shrimat that you are reformed. By making effort to conquer anger, you will gradually gain victory. The Father also explains: Continue to remove the defects. Anger is very bad: it burns you inside and it also burns others; it has to be removed. When children don’t follow the Father’s shrimat, their status is lowered, and a loss is incurred for birth after birth, cycle after cycle. You children know that these are physical studies whereas this is a spiritual study which the spiritual Father is teaching. Care has to be taken in every way. No vicious beings can come here to Madhuban. If, at times of illness, your friends and relatives, who indulge in vice come, that isn’t good either. We would not like that, because those friends and relatives would be remembered in the final moments. You would not then be able to claim a high status. The Father continues to inspire you to make effort. No one should be remembered. It should not be that, because you are ill, you expect your friends and relatives to come and visit you. No, it is not the system to invite them. It is only by following the systems that salvation is received. Otherwise, you cause yourself a loss unnecessarily. However, those with tamopradhan intellects do not understand this. God advises them and they still do not reform themselves! You have to move along here with great caution. This is the holiest of holy places. Impure ones cannot stay here. If you remember your friends and relatives, then, at the time of dying, they would definitely be remembered. By becoming body conscious, you only cause yourself a loss and this also becomes a cause of punishment. By not following shrimat, you cannot become worthy of doing servicefor there is great degradation. No matter how much you beat your heads, you cannot become worthy of doing service. If you are disobedient, you will become those with stone intellects. Instead of climbing up, you fall. The Father would say: You children should become obedient. Otherwise, your status will be destroyed. A physical father has four to five children but, in that too, he has love for those who are obedient. Those who are not obedient would only cause sorrow. You children have now found two very great fathers; you must not disobey them. If you are disobedient, you receive a very low status for birth after birth and cycle after cycle. Make such effort that only one Shiv Baba is remembered at the end. Baba says: I can know what effort each one of you is making. Some have very little remembrance. Others simply continue to remember their friends and relatives. They cannot remain that happy or claim a high status. For you, it is the day of the Satguru every day. Children are admitted into college on a Thursday, the day of Jupiter. That is physical knowledge, whereas this is spiritual knowledge. You know that Shiv Baba is our Father, Teacher and Satguru, and so you should follow His directions, for only then will you be able to claim a high status. Those who are effort-makers have so much happiness inside them, don’t even ask! If you have happiness, you make effort to make others happy. Look how much effort some daughters continue to make day and night because this knowledge is wonderful. BapDada has mercy because some children cause themselves so much loss by not understanding. They become body conscious and are very jealous inside. People in anger become as red as copper. Anger burns human beings and lust makes them ugly. They don’t burn as much through attachment or greed; they burn with anger. Many have the evil spirit of anger; they fight so much! By fighting, they only cause themselves a loss. They disobey both the Incorporeal and the corporeal. Baba understands that they are unworthy. If you make effort you will claim a high status. So, for your own benefit, you have to forget all your relationships. Do not remember anyone except the one Father. Whilst living at home and seeing your relatives, only remember Shiv Baba. You are now at the confluence age. Now remember your new home, the land of peace. This is an unlimited education. The Father gives you teachings and there is benefit for you children in these. Some children cause themselves harm unnecessarily with their unlawful behaviour. You are making effort to claim the sovereignty of the world, but Maya, the cat, cuts off your ears. You have taken birth and you say that you will claim that status, but Maya, the cat, doesn’t allow you to claim it and so your status is destroyed. Maya attacks you very forcefully. You come here to claim the kingdom, but Maya harasses you. The Father feels mercy and feels that it would be good if the poor children were to claim a high status, that they should not become those who defame Me. Those who defame the Satguru cannot claim a high status. Whose defamation is it? That of Shiv Baba. Let your behaviour not be such that the Father is defamed. There is no question of arrogance in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. For your own benefit forget all bodily relations. Do not have love for them. Only follow God’s directions and not your own. Protect yourself from bad company and stay in the company of God.
  2. Anger is very bad; it burns the self. Do not be disobedient under the influence of anger. Remain happy and make effort to make everyone else happy.
Blessing: May you be a self-transformer whose heart has realization and receive blessings from Dilaram, the Comforter of Hearts.
In order to transform yourself you need an honest heart to have realization of two things: 1) Realisation of your weaknesses. 2) Realization of the desires and feelings in the minds of the people who become instruments for some situation. For you to pass you must understand the reason for the paper of the situation and have realization of your elevated form. Understand that your own original stage is elevated and that the situation is just a paper.This realization will easily bring about transformation, for when you have realization with an honest heart, you will receive blessings from the Comforter of Hearts.
Slogan: An heir is one who is everready and says “Yes, my Lord, I am present” for every task.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 September 2019

To Read Murli 29 September 2019:- Click Here
30-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सदा श्रीमत पर चलना – यही श्रेष्ठ पुरुषार्थ है, श्रीमत पर चलने से आत्मा का दीपक जग जाता है”
प्रश्नः- पूरा-पूरा पुरुषार्थ कौन कर सकते हैं? ऊंच पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- पूरा पुरुषार्थ वही कर सकते जिनका अटेन्शन वा बुद्धियोग एक में है। सबसे ऊंचा पुरुषार्थ है बाप के ऊपर पूरा-पूरा कुर्बान जाना। कुर्बान जाने वाले बच्चे बाप को बहुत प्रिय लगते हैं।
प्रश्नः- सच्ची-सच्ची दीपावली मनाने के लिए बेहद का बाप कौन-सी राय देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, बेहद की पवित्रता को धारण करो। जब यहाँ बेहद पवित्र बनेंगे, ऐसा ऊंचा पुरुषार्थ करेंगे तब लक्ष्मी-नारायण के राज्य में जा सकेंगे अर्थात् सच्ची-सच्ची दीपावली वा कारोनेशन डे मना सकेंगे।

ओम् शान्ति। बच्चे अभी यहाँ बैठकर क्या कर रहे हैं? चलते फिरते अथवा यहाँ बैठे-बैठे जन्म-जन्मान्तर के जो पाप सिर पर हैं, उन पापों का याद की यात्रा से विनाश करते हैं। यह तो आत्मा जानती है, हम जितना बाप को याद करेंगे उतना पाप कटते जायेंगे। बाप ने तो अच्छी रीति समझाया है – भल यहाँ बैठे हो तो भी जो श्रीमत पर चलने वाले हैं, उनको तो बाप की राय अच्छी ही लगेगी। बेहद बाप की राय मिलती है, बेहद पवित्र बनना है। तुम यहाँ आये हो बेहद पवित्र बनने के लिए, सो बनेंगे ही याद की यात्रा से। कई तो बिल्कुल याद कर नहीं सकते, कई समझते हैं हम याद की यात्रा से अपने पाप काट रहे हैं, गोया अपना कल्याण कर रहे हैं। बाहर वाले तो इन बातों को जानते नहीं। तुमको ही बाप मिला है, तुम रहते ही हो बाप के पास। जानते हो अभी हम ईश्वरीय सन्तान बने हैं, आगे आसुरी सन्तान थे। अब हमारा संग ईश्वरीय सन्तानों से है। गायन भी है ना – संग तारे कुसंग डुबोये। बच्चों को घड़ी-घड़ी यह भूल जाता है कि हम ईश्वरीय सन्तान हैं तो हमको ईश्वरीय मत पर ही चलना चाहिए, न कि अपनी मनमत पर। मनमत मनुष्य मत को कहा जाता है। मनुष्य मत आसुरी ही होती है। जो बच्चे अपना कल्याण चाहते हैं वह बाप को अच्छी रीति याद करते रहते हैं, सतोप्रधान बनने के लिए। सतोप्रधान की महिमा भी होती है। बरोबर जानते हैं हम सुखधाम के मालिक बनते हैं नम्बरवार। जितना-जितना श्रीमत पर चलते हैं, उतना ऊंच पद पाते हैं, जितना अपनी मत पर चलते तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। अपना कल्याण करने के लिए बाप के डायरेक्शन तो मिलते ही रहते हैं। बाप ने समझाया है यह भी पुरुषार्थ है, जो जितना याद करते हैं तो उनके भी पाप कटते हैं। याद की यात्रा बिगर तो पवित्र बन नहीं सकेंगे। उठते, बैठते, चलते यही ओना रखना है। तुम बच्चों को कितने वर्षों से शिक्षा मिली है तो भी समझते हैं हम बहुत दूर हैं। इतना बाप को याद नहीं कर सकते हैं। सतोप्रधान बनने में तो बहुत टाइम लग जायेगा। इस बीच में शरीर छूट जाए तो कल्प-कल्पान्तर के लिए कम पद हो जायेगा। ईश्वर का बने हैं तो उनसे पूरा वर्सा लेने का पुरुषार्थ करना चाहिए। बुद्धि एक तरफ ही रहनी चाहिए। तुमको अब श्रीमत मिलती है। वह है ऊंच ते ऊंच भगवान। उनकी मत पर नहीं चलेंगे तो बहुत धोखा खायेंगे। चलते हो वा नहीं, वह तो तुम जानो और शिवबाबा जाने। तुमको पुरुषार्थ कराने वाला वह शिवबाबा है। देहधारी सब पुरुषार्थ करते हैं। यह भी देहधारी है, इनको शिवबाबा पुरुषार्थ कराते हैं। बच्चों को ही पुरुषार्थ करना है। मूल बात है पतितों को पावन बनाने की। वैसे दुनिया में पावन तो बहुत होते हैं। सन्यासी भी पवित्र रहते हैं। वह तो एक जन्म के लिए पावन बनते हैं। ऐसे बहुत हैं जो इस जन्म में बाल ब्रह्मचारी रहते हैं। वह कोई दुनिया को मदद नहीं दे सकते हैं पवित्रता की। मदद तब हो जबकि श्रीमत पर पावन बनें और दुनिया को पावन बनायें।

अभी तुमको श्रीमत मिल रही है। जन्म-जन्मान्तर तो तुम आसुरी मत पर चले हो। अब तुम जानते हो सुखधाम की स्थापना हो रही है। जितना हम श्रीमत पर पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। यह ब्रह्मा की मत नहीं है। यह तो पुरुषार्थी है। इनका पुरुषार्थ जरूर इतना ऊंच है तब तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। तो बच्चों को यह फालो करना है। श्रीमत पर चलना पड़े, मनमत पर नहीं। अपने आत्मा की ज्योति को जगाना है। अभी दीपावली आती है, सतयुग में दीपावली होती नहीं। सिर्फ कारोनेशन है। बाकी आत्मायें तो सतोप्रधान बन जाती हैं। यह जो दीपमाला मनाते हैं, वह है झूठी। बाहर के दीपक जगाते हैं, वहाँ तो घर-घर में दीप जगा हुआ है अर्थात् सबकी आत्मा सतोप्रधान रहती है। 21 जन्मों के लिए ज्ञान घृत पड़ जाता है। फिर आहिस्ते-आहिस्ते कम होते-होते इस समय ज्योति उझाई है – सारी दुनिया की। इसमें भी खास भारतवासी, आम दुनिया। अभी पाप आत्मायें तो सब हैं, सबकी कयामत का समय है, सबको हिसाब-किताब चुक्तू करना है। अभी तुम बच्चों को पुरुषार्थ करना है ऊंच ते ऊंच पद पाने का, श्रीमत पर चलने से ही पायेंगे। रावण राज्य में तो शिवबाबा की बहुत अवज्ञा की है। अब भी उनके फ़रमान पर नहीं चलेंगे तो बहुत धोखा खायेंगे। उनको ही बुलाया है कि आकर हमको पावन बनाओ। तो अब अपना कल्याण करने के लिए शिवबाबा की श्रीमत पर चलना पड़े। नहीं तो बहुत अकल्याण हो जायेगा। मीठे-मीठे बच्चे यह भी जानते हो – शिवबाबा की याद बिगर हम सम्पूर्ण पावन बन नहीं सकते। तुमको इतने वर्ष हुए हैं फिर भी ज्ञान की धारणा क्यों नहीं होती है। सोने के बर्तन में ही धारणा होगी। नये-नये बच्चे कितने सर्विसएबुल हो जाते हैं। फर्क देखो कितना है। पुराने-पुराने बच्चे इतना याद की यात्रा में नहीं रहते, जितना नये रहते हैं। कई अच्छे शिवबाबा के लाडले बच्चे आते हैं, कितनी सर्विस करते हैं। जैसेकि शिवबाबा के पिछाड़ी आत्मा को कुर्बान कर दिया है। कुर्बान करने से फिर सर्विस भी कितनी करते हैं। कितने प्रिय मीठे लगते हैं। बाप को मदद करते ही हैं याद की यात्रा में रहने से। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पावन बनेंगे। बुलाया ही है कि मुझे आकर पावन बनाओ तो अब बाप कहते हैं मुझे याद करते रहो। देह के सम्बन्ध सब त्याग करना पड़े। मित्र-सम्बन्धियों आदि की भी याद न रहे, सिवाए एक बाप के, तब ही ऊंच पद पा सकेंगे। याद नहीं करेंगे तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। यह बापदादा भी समझ सकते हैं। तुम बच्चे भी जानते हो। नये-नये आते हैं, समझते हैं दिन-प्रतिदिन सुधरते जाते हैं। श्रीमत पर चलने से ही सुधरते हैं। क्रोध पर भी पुरुषार्थ करते-करते जीत पाते हैं। तो बाप भी समझाते हैं, खराबियों को निकालते रहो। क्रोध भी बड़ा खराब है। अपने अन्दर को भी जलाते हैं, दूसरे को भी जलाते हैं। वह भी निकलना चाहिए। बच्चे बाप की श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो पद कम हो जाता है, जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर का घाटा पड़ जाता है।

तुम बच्चे जानते हो कि वह है जिस्मानी पढ़ाई, यह है रूहानी पढ़ाई जो रूहानी बाप पढ़ाते हैं। हर प्रकार की सम्भाल भी होती रहती है। कोई विकारी यहाँ अन्दर (मधुबन में) आ न सके। बीमारी आदि में भी विकारी मित्र-सम्बन्धी आयें, यह तो अच्छा नहीं। पसन्द भी हम न करें। नहीं तो अन्तकाल वह मित्र-सम्बन्धी ही याद पड़ेंगे। फिर वह ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप तो पुरुषार्थ कराते हैं, कोई की भी याद न आये। ऐसे नहीं, हम बीमार हैं इसलिए मित्र-सम्बन्धी आदि आयें देखने के लिए। नहीं, उन्हों को बुलाना, कायदा नहीं। कायदेसिर चलने से ही सद्गति होती है। नहीं तो मुफ्त अपने को नुकसान पहुँचाते हैं। परन्तु तमोप्रधान बुद्धि यह समझते नहीं हैं। ईश्वर राय देते हैं तो भी सुधरते नहीं। बड़ा खबरदारी से चलना चाहिए। यह है होलीएस्ट ऑफ होली स्थान। पतित ठहर न सकें। मित्र-सम्बन्धी आदि याद होंगे तो मरने समय जरूर वह याद आयेंगे। देह-अभिमान में आने से अपने को ही नुकसान पहुँचाते हैं। सज़ा के निमित्त बन पड़ते हैं। श्रीमत पर न चलने से बड़ी दुर्गति हो जाती है। सर्विस लायक बन न सके। कितना भी माथा मारे परन्तु सर्विस लायक हो नहीं सकते। अवज्ञा की तो पत्थरबुद्धि बन जाते हैं। ऊपर चढ़ने बदले नीचे गिर जाते हैं। बाप तो कहेंगे बच्चों को आज्ञाकारी बनना चाहिए। नहीं तो पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। लौकिक बाप के पास भी 4-5 बच्चे होते हैं, परन्तु उनमें जो आज्ञाकारी होते हैं वही बच्चे प्रिय लगते हैं। जो आज्ञाकारी नहीं वह तो दु:ख ही देंगे। अभी तुम बच्चों को दोनों बाप बहुत बड़े मिले हैं, उनकी अवज्ञा नहीं करनी है। अवज्ञा करेंगे तो जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर बहुत कम पद पायेंगे। पुरुषार्थ ऐसा करना है जो अन्त में एक ही शिवबाबा याद आये। बाप कहते हैं मैं जान सकता हूँ – हर एक क्या पुरुषार्थ करते हैं। कोई तो बहुत थोड़ा याद करते हैं, बाकी तो अपने मित्र-सम्बन्धियों को ही याद करते रहते हैं। वह इतना खुशी में नहीं रह सकते। ऊंच पद पा न सकें।

तुम्हारा तो रोज़ सतगुरूवार है। बृहस्पति के दिन कॉलेज में बैठते हैं। वह है जिस्मानी विद्या। यह तो है रूहानी विद्या। तुम जानते हो शिवबाबा हमारा बाप, टीचर, सतगुरू है। तो उनके डायरेक्शन पर चलना चाहिए, तब ही ऊंच पद पा सकेंगे। जो पुरुषार्थी हैं, उन्हों के अन्दर बहुत खुशी रहती है। बात मत पूछो। खुशी है तो औरों को भी खुश करने का पुरुषार्थ करते हैं। बच्चियां देखो कितनी मेहनत करती रहती हैं – दिन-रात क्योंकि यह वन्डरफुल ज्ञान है ना। बापदादा को तरस पड़ता है कि कई बच्चे बेसमझी से कितना घाटा पाते हैं। देह-अभिमान में आकर अन्दर में बड़ा जलते हैं। क्रोध में मनुष्य ताम्बे जैसा लाल हो जाते हैं। क्रोध मनुष्य को जलाता है, काम काला बना देता है। मोह अथवा लोभ में इतना जलते नहीं हैं। क्रोध में जलते हैं। क्रोध का भूत बहुतों में है। कितना लड़ते हैं। लड़ने से अपना ही नुकसान कर लेते हैं। निराकार साकार दोनों की अवज्ञा करते हैं। बाप समझते हैं यह तो कपूत हैं। मेहनत करेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। तो अपने कल्याण के लिए सब सम्बन्ध भुला देने हैं। सिवाए एक बाप के किसको भी याद नहीं करना है। घर में रहते सम्बन्धियों को देखते हुए शिवबाबा को याद करना है। तुम हो संगमयुग पर, अब अपने नये घर को, शान्तिधाम को याद करो।

यह तो बेहद की पढ़ाई है ना। बाप शिक्षा देते हैं इसमें बच्चों का ही फ़ायदा है। कई बच्चे अपनी बेढंगी चलन से मुफ्त अपने को नुकसान पहुँचाते हैं। पुरुषार्थ करते हैं विश्व की बादशाही लेने के लिए परन्तु माया बिल्ली कान काट लेती है। जन्म लिया है, कहते हैं हम यह पद पायेंगे परन्तु माया बिल्ली लेने नहीं देती, तो पद भ्रष्ट हो जाता है। माया बड़ा जोर से वार कर देती है। तुम यहाँ आते हो राज्य लेने के लिए। परन्तु माया हैरान करती है। बाप को तरस पड़ता है बिचारे ऊंच पद पावें तो अच्छा है। मेरी निंदा कराने वाला न बनें। सतगुरू का निंदक ठौर न पाये, किसकी निंदा? शिवबाबा की। ऐसी चलन नहीं चलनी चाहिए जो बाप की निंदा हो, इसमें अहंकार की बात नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने कल्याण के लिए देह के सब सम्बन्ध भुला देने हैं, उनसे प्रीत नहीं रखनी है। ईश्वर की ही मत पर चलना है, अपनी मत पर नहीं। कुसंग से बचना है, ईश्वरीय संग में रहना है।

2) क्रोध बहुत खराब है, यह स्वयं को जलाता है, क्रोध के वश होकर अवज्ञा नहीं करनी है। खुश रहना है और सबको खुश करने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- दिल की महसूसता से दिलाराम की आशीर्वाद प्राप्त करने वाले स्व परिवर्तक भव
स्व को परिवर्तन करने के लिए दो बातों की महसूसता सच्चे दिल से चाहिए 1- अपनी कमजोरी की महसूसता 2- जो परिस्थिति वा व्यक्ति निमित्त बनते हैं उनकी इच्छा और उनके मन की भावना की महसूसता। परिस्थिति के पेपर के कारण को जान स्वयं को पास होने के श्रेष्ठ स्वरूप की महसूसता हो कि स्वस्थिति श्रेष्ठ है, परिस्थिति पेपर है – यह महसूसता सहज परिवर्तन करा लेगी और सच्चे दिल से महसूस किया तो दिलाराम की आशीर्वाद प्राप्त होगी।
स्लोगन:- वारिस वह है जो एवररेडी बन हर कार्य में जी हजूर हाजिर कहता है।

TODAY MURLI 30 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 September 2018 :- Click Here

30/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/01/84

Become a great donor and a bestower of blessings.

Today, BapDada is seeing in all the children the personality of purity, the royalty of being an embodiment of all attainments and the reality of being a spiritual embodiment of remembrance. He is seeing all the children crowned with the sparkling light of the personality of purity. On the one side He is seeing the gathering of the children who are embodiments of all attainments. On the other side are the souls of the world who always lack something and are never embodiments of attainment. Even though they constantly have all temporary attainments, they are never content; they are always want something or other. They constantly chant, “I want this, I want that.” They are running around. They are thirsty and constantly wandering around here and there with the desire to attain something in terms of body, mind, wealth or other people. They especially want three things and make all sorts of effort for them. Firstly, they want power, of the body, of wealth, of status or of their intellect. Secondly, they also want devotion. They want to be able to perform devotion with an honest heart for a few moments. Devotee souls have the desire to perform such devotion. Thirdly, since the copper age, many souls have been seeing the world of sorrow and crying out in distress and, because of this sorrow and peacelessness, have been considering temporary attainment to be like a mirage. Therefore, they want liberation from the world of sorrow and the bondage of the sorrow of vices. Devotees want devotion, others want power and others want liberation. Who are the jewels of contentment who can give such discontented souls a drop of happiness, peace, purity and knowledge and enable them to attain something? Are you this? You are the children of the Merciful Father. The Father has compassion for you that, as the children of the Bestower, you still constantly cry out, “I want this! I want that! I want this!” for some temporary attainment. So, do you children, who are master bestowers and embodiments of attainment, feel mercy for the souls of the world? Do you have the enthusiasm to help your brothers who are wandering around so much chasing after temporary desires? Children of the Bestower, cast your vision of mercy and compassion on your brothers! Become great donors! Become bestowers of blessings! Become sparkling jewels of contentment and make everyone content. Nowadays, people call out to the goddess of contentment a great deal because where there is contentment, nothing is lacking. On the basis of contentment, one is also able to experience having plenty of physical wealth. If you give even just two rupees to someone who is content, that is equivalent to a hundred thousand. If someone is a millionaire and not content, then that million is not a million, for he is a beggar for desires. Desires mean distress. Desires (ichcha) can never make you become good (achcha) because, although your perishable desires may be fulfilled, they also give birth to many other desires. This is why you become trapped in circles of desires, as through you are trapped in a spider’s web. You cannot become free even though you want to. Therefore, make your brothers, who are trapped in such a web ignorant of even knowing about perishable desires. To be distressed (pareshaan) means to act beneath your dignity (shaan). All of you are children of God, children of the Bestower and all attainments are your birthright. When you lose your dignity, you become distressed. Show such souls their elevated dignity. Do you understand what you have to do?

All you double-foreign children are going back to your respective places. What will you do when you get back? Become great donors and bestowers of blessings and fill the aprons of all souls with the attainments of peace and happiness. This is the thought you are going back with, is it not? Seeing the children’s courage and love, BapDada gives the children multimillion-fold return of their constant love. Those who live in faraway lands have come closer through their recognition and attainment, whereas those of this land have become distant through their recognition and attainment. Therefore, double-foreign children, with the determination to be embodiments of attainment and having the enthusiasm of contentment, constantly continue to move forward. The Bestower of Fortune, the Bestower of All Attainments, is always with you. Achcha.

To such merciful children of the Merciful Father, to the children who are jewels of contentment and who make everyone full of the treasure of contentment, to the children who are always embodiments of all attainments and who remain well-wishers for others with the good wishes to enable them to attain something, to those who make everyone ignorant of the knowledge of perishable desires, to the all-powerful children BapDada’s love, remembrance and namaste.

Seeing the double-foreign children, BapDada sa id :

If anyone in this group is told to stay here, are you ever ready? None of you has any bondage back home, do you? This will also happen. The time will come when everyone’s ticket is cancelled and you will be made to stay here. At such a time, no one will want to take salvation (facilities). Do all of you remember how you spent those four days when Brahma Baba became avyakt? Was the building big enough? Did you cook anything? So, how did you spend those four days? The days of destruction will also be spent just like that. You were absorbed in love at that time, were you not? Completion will also take place in a stage just like that when you will be absorbed in love. You will then stay here on the mountains and do tapasya. You will see the whole of destruction with your third eye. You are carefree in this way, are you not? You don’t have any worries about your house, your family or your work. You are always carefree. There is no question as to what will happen. Whatever happens will be good. This is called being carefree. You might remember the building of your centre or your bank balance. Nothing should be remembered. Yours is true wealth, whether it has been used for the building or is in the bank. You will receive your wealth multiplied multimillion-fold. You have insured everything, have you not? Dust will turn to dust and you will receive your wealth multiplied multimillion-fold. What else do you want? True wealth can never go to waste. Do you understand? Remain constantly carefree in this way. “I don’t know what will happen to the centreafterwards? What will happen to our home?” Let there not be this question. All of it has already been used in a worthwhile way. You no longer have any question as to whether it will be used in a worthwhile way or not. You have already willed it in advance. When someone has made his will beforehand, he remains carefree. All of you have willed your every breath, thought, second, wealth and body, have you not? You cannot use anything for yourself that you have already willed.

You cannot use even a second or a penny without shrimat; it all belongs to God. Therefore, souls cannot use it for themselves or for other souls. You can use it according to the directions you receive. Otherwise, it is being dishonest with the treasures you have been entrusted with. If you use even a little of your wealth without a direction for any task, that wealth will then pull you to where it has been used. The wealth will pull the mind and the mind will pull the body and distress you. So, you have willed it all, have you not? If you use everything according to the directions you receive, there is no sin and no burden; you are freefrom that. You do understand the directions, do you not? You have received directions for everything. It is clear, is it not? You never become confused, do you? You never become confused as to whether you should do something or not for a particular task, do you? Whenever there is a little confusion, have it verifiedby the instruments. Or, if your stage is powerful, then the touchings you receive at amrit vela will always be accurate. Don’t sit at amrit vela with mixed feelings in your mind, but sit with a plain intellect and the touchings will be accurate.

Whenever some children have problems, they sit with only their own feelings in their minds. “This is what I should do. That is what should happen. In my opinion, this is fine.” Therefore, the touchings too would not be accurate. They would then only receive a response of the thoughts of their own mind. This is why, somewhere or other, there is no success. They then become confused about the direction they received at amrit vela, and thereby don’t understand why something happened or why they weren’t successful. However, they had mixed feelings in their own minds and so they just received the fruit of those feelings. What fruit would you receive from the dictates of your own mind? There would only be confusion, would there not? This is called willing even the thoughts of your mind. This is my thought, but what does Baba say? Achcha.

Speaking to the teachers :

BapDada has special love for teachers because you are equal. The Father is the Teacher and you are master teachers. In any case, those who are equal are loved very much. You are moving forward in service with very good zeal and enthusiasm. All of you are rulers of the globe. You toured around and came into relationship with many souls and are carrying out the task of bringing many souls close. BapDada is pleased. You feel that BapDada is pleased with you, do you not? Or, do you feel that you still have to do a little more? He is pleased, but you have to please Him a little more. You are working very hard. You work hard with love and this is why it doesn’t feel like hard work. BapDada always says that serviceable children are the crowns on the head. You are the crowns on the head. Seeing the zeal and enthusiasm of the children, BapDada gives further co-operation to increase the zeal and enthusiasm. One step of the children and multimillion steps of the Father. Where there is courage, there is automatically the attainment of enthusiasm. When you have courage, you receive the Father’s help. This is why you are carefree emperors. Continue to serve and you will continue to receive success. Achcha.

BapDada meeting guests who have come for the Mt . Abu Conference (13/02/84)

Dr. James Jonah, Assistant Secretary General, United Nations

BapDada will always give co-operation and fulfil the child’s thoughts in his heart. Whatever your thoughts are, you have reached exactly the right place for you to put those thoughts into a practical form. Do you believe that all of these are your companions who will help you to fulfil your thoughts? By having remembrance you will constantly experience peace. You will continue to experience very sweet peace filled with happiness. You have reached the family that loves peace and so you have become an instrument for service. As a return for becoming an instrument, whenever you remember the Father, you will easily continue to experience success. Always keep yourself in the awareness, “I am a soul who is an embodiment of peace, I am a child of the Ocean of Peace, I am a soul who loves peace”. Use this experience to continue to give this message to whoever comes into connection with you. This alokik occupation will constantly enable you to perform elevated actions and those elevated actions will enable you to experience an elevated attainment. Then, both your present and your future will be elevated. You are a soul who is worthy of experiencing peace. Constantly continue to move along in the waves in the Ocean of Peace.

Whenever you find a task difficult, stay in connection with the angels of peace and the difficulties will become easy. Do you understand? Even so, you are very fortunate. It is only a handful out of multi-millions, and a few from that handful who reach this land of the Bestower of Fortune. So, you have become fortunate. Now, you definitely have to become multi-million times fortunate. You have this aim, do you not? You will definitely become this, simply continue to keep your connection with the angels of peace. It is special souls that play special parts who reach here. You have a special part in the future too, which you will come to know as you progress further. This task is already accomplished successfully. This is just a means of service to enable those who want to create their fortune to do so. However, otherwise, it is already accomplished and it has been accomplished many times before. Your thought is very good. Give all your companions who have gone from here, those who are loving and co-operative, special flowers of love together with BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting Madam Anwar Sadat – A message for Egypt

Go back to your country and show them the method of economy of wealth. You experience wealth with happiness in the mind and economy of wealth is the basis of happiness in the mind. In this way, show them the way to be economical with wealth and the means of happiness of the mind and they will experience you to be an angel of happiness who gives them wealth (dhan) and the mind (man). So, go from here having become an angel of peace and happiness. Constantly keep with you the imperishable blessings from this sacrificial fire of peace. Whenever any situation arises, when you say, “My Baba”, that situation will become easy. When you wake up, first of all, always have a sweet conversation with the Father and, during the day, every now and then, check yourself as to whether you are with the Father. At night, go to sleep with the Father, do not sleep alone and you will constantly continue to experience the Father’s company. You will continue to give the Father’s message to everyone. You can do a lot of service because you have the desire that everyone should receive happiness and peace and when you do something from your heart’s desire you definitely have success in that. Achcha.

Blessing: May you be an easy yogi who forges all your relationships with the one Father and thereby bids farewell to Maya.
When there is a relationship, remembrance is automatically easy. To have all your relationships with the one Father is to be an easy yogi. By being an easy yogi, you can easily bid farewell to Maya. When Maya has taken leave, the greetings from the Father enable you to make a great deal of progress. Those who continue to receive blessings from God and from the Brahmin family at every step easily continue to fly.
Slogan: Become businessmen who remain constantly busy and you will have an income of multimillions at every step.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 September 2018

To Read Murli 29 September 2018 :- Click Here
30-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-01-84 मधुबन

महादानी बनो, वरदानी बनो

आज बापदादा सर्व बच्चों के प्युरिटी की पर्सनैलिटी और सर्व प्राप्ति स्वरूप की रॉयल्टी, रूहानी स्मृति-स्वरूप की रीयल्टी देख रहे हैं। सभी बच्चों को प्युरिटी की पर्सनैलिटी से चमकते हुए लाइट के क्राउनधारी देख रहे हैं। एक तरफ सर्व प्राप्ति स्वरूप बच्चों का संगठन देख रहे हैं। दूसरी तरफ विश्व की अप्राप्त आत्मायें जो सदा अल्पकाल की प्राप्ति होते हुए भी प्राप्ति स्वरूप नहीं हैं। सन्तुष्ट नहीं हैं। सदा कुछ न कुछ पाने की इच्छा बनी रहती है। सदा यह चाहिए, यह चाहिए की धुन लगी हुई है। भाग दौड़ कर रहे हैं। प्यासे बन यहाँ वहाँ तन से, मन से, धन से, जन से कुछ प्राप्त हो जाए, इसी इच्छा से भटक रहे हैं। विशेष तीन बातों की तरफ इच्छा रख अनेक प्रकार के प्रयत्न कर रहे हैं। एक तो शक्ति चाहिए तन की, फिर धन की, पद की, बुद्धि की और दूसरा भक्ति चाहिए। दो घड़ी सच्ची दिल से भक्ति कर पावें, ऐसे भक्ति की इच्छा भी भक्त आत्मायें रखती हैं। तीसरा-अनेक आत्मायें द्वापर से दु:ख और पुकार की दुनिया देख-देख दु:ख और अशान्ति के कारण अल्पकाल की प्राप्ति मृगतृष्णा समझते हुए दु:ख की दुनिया से, इस विकारी दु:खों के बन्धनों से मुक्ति चाहती हैं। भक्त, भक्ति चाहते हैं और अन्य कोई शक्ति चाहते, कोई मुक्ति चाहते। ऐसी असन्तुष्ट आत्माओं को सुख और शान्ति की, पवित्रता की, ज्ञान की अंचली देने वाले वा प्राप्ति कराने वाली सन्तुष्ट मणियां कौन हैं? आप हो? रहमदिल बाप के बच्चे जैसे बाप को रहम आता है कि दाता के बच्चे और अल्पकाल की प्राप्ति के लिए चाहिए – चाहिए-चाहिए के नारे लगा रहे हैं। ऐसे आप मास्टर दाता प्राप्ति स्वरूप बच्चों को विश्व की आत्माओं प्रति रहम आता है, उमंग आता है कि हमारे भाई अल्प-काल की इच्छा में कितने भटक रहे हैं? दाता के बच्चे अपने भाईयों के ऊपर दया और रहम की दृष्टि डालो। महादानी बनो, वरदानी बनो। चमकती हुई सन्तुष्ट मणियां बन सर्व को सन्तोष दो। आजकल सन्तोषी माँ को बहुत पुकारते हैं क्योंकि जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ अप्राप्ति का अभाव है। सन्तुष्टता के आधार पर स्थूल धन में भी बरक्कत अनुभव करते हैं। सन्तुष्टता वाले का धन दो रूपया भी दो लाख समान है। करोड़पति हो लेकिन सन्तुष्टता नहीं तो करोड़ करोड़ नहीं, इच्छाओं के भिखारी हैं। इच्छा अर्थात् परेशानी। इच्छा कभी अच्छा बना नहीं सकती क्योंकि विनाशी इच्छा पूर्ण होने के साथ-साथ और अनेक इच्छाओं को जन्म देती हैं इसलिए इच्छाओं के चक्र में मकड़ी की जाल मुआफिक फँस जाते हैं। छूटने चाहते भी छूट नहीं सकते इसलिए ऐसे जाल में फँसे हुए अपने भाईयों को विनाशी इच्छा मात्रम् अविद्या बनाओ। परेशान अर्थात् शान से परे। हम सभी ईश्वरीय बच्चे हैं, दाता के बच्चे हैं, सर्व प्राप्तियां जन्म सिद्ध अधिकार हैं। इस शान से परे होने के कारण परेशान हैं। ऐसी आत्माओं को अपना श्रेष्ठ शान बताओ। समझा क्या करना है?

सभी डबल विदेशी बच्चे अपने-अपने स्थानों पर जा रहे हैं ना। क्या जाकर करेंगे? महादानी-वरदानी बन सर्व आत्माओं की सुख-शान्ति की प्राप्तियों द्वारा झोली भर देना। यही संकल्प लेकर जा रहे हो ना। बापदादा बच्चों की हिम्मत और स्नेह को देख बच्चों को सदा स्नेह के रिटर्न में पदमगुणा स्नेह देते हैं। दूर देश वाले पहचान और प्राप्ति से समीप बन गये और देश वाले पहचान और प्राप्ति से दूर रह गये हैं इसलिए सदा डबल विदेशी बच्चे प्राप्ति स्वरूप की दृढ़ता और सन्तुष्टता के उमंग में आगे बढ़ते चलो। भाग्य विधाता सर्व प्राप्तियों का दाता सदा आपके साथ है। अच्छा।

ऐसे रहमदिल बाप के रहमदिल बच्चों को, सर्व को सन्तुष्टता के खजाने से सम्पन्न बनाने वाले सन्तुष्ट मणी बच्चों को, सदा प्राप्ति स्वरूप बन सर्व को प्राप्ति कराने की शुभ भावना में रहने वाले शुभ चिन्तक बच्चों को, सर्व को विनाशी इच्छाओं से इच्छा मात्रम् अविद्या बनाने वाले, सर्व समर्थ बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

विदेशी बच्चों को देखते हुए बापदादा बोले:-

इस ग्रुप में किसी को भी कहें कि यहाँ बैठ जाओ तो एवररेडी हो? कोई का पीछे का कोई बन्धन तो नहीं है? ऐसे भी होगा, जब समय आयेगा सभी की टिकेट कैन्सिल कराके यहाँ बिठा देंगे। ऐसे समय पर कोई सैलवेशन भी नहीं लेंगे। सभी को याद है – जब ब्रह्मा बाप अव्यक्त हुए तो वह 4 दिन कैसे बिताये? मकान बड़ा था? खाना बनाया था? फिर 4 दिन कैसे बीता था! विनाश के दिन भी ऐसे ही बीत जायेंगे। उस समय लवलीन थे ना। ऐसे ही लवलीन स्थिति में समाप्ति होगी। फिर यहाँ की पहाड़ियों पर रहकर तपस्या करेंगे। तीसरी ऑख से सारा विनाश देखेंगे। ऐसे निश्चिंत हो ना। कोई चिंता नहीं। न मकान की, न परिवार की, न काम की। सदा निश्चिंत, क्या होगा यह क्वेश्चन नहीं। जो होगा अच्छा होगा। इसको कहा जाता है निश्चिंत। सेन्टर का मकान याद आ जाए, बैंक बैलन्स याद आ जाए… कुछ भी याद न आये क्योंकि आपका सच्चा धन है ना। चाहे मकान में लगा है, चाहे बैंक में रहा हुआ है। लेकिन आपका तो पदमगुणा होकर आपको मिलेगा। आपने तो इनश्योर कर लिया ना। मिट्टी, मिट्टी हो जायेगी और आपका हक आपको पदमगुणा होकर मिल जायेगा और क्या चाहिए। सच्चा धन कभी भी वेस्ट नहीं जा सकता। समझा! ऐसे सदा निश्चिंत रहो। पता नहीं पीछे सेन्टर का क्या होगा? घर का क्या होगा? यह क्वेश्चन नहीं। सफल हुआ ही पड़ा है। सफल होगा या नहीं, यह क्वेश्चन नहीं। पहले से ही विल कर दिया है ना। जैसे कोई विल करके जाता है, पहले से ही निश्चिन्त होता है ना। तो आप सबने अपना हर श्वांस, संकल्प, सेकण्ड, सम्पत्ति, शरीर सब विल कर दिया है ना। बिल की हुई चीज कभी भी स्व के प्रति यूज नहीं कर सकते।

बिना श्रीमत के एक सेकण्ड या एक पैसा भी यूज़ नहीं कर सकते। परमात्मा का सब हो गया तो आत्मायें अपने प्रति या आत्माओं के प्रति यूज़ नहीं कर सकती हैं। डायरेक्शन प्रमाण कर सकती हैं। नहीं तो अमानत में ख्यानत हो जायेगी ना। थोड़ा भी धन बिना डायरेक्शन के कहाँ भी कार्य में लगाया, तो वह धन आपको भी उस तरफ खींच लेगा। धन, मन को खींच लेगा। और मन तन को खींच लेगा और परेशान करेगा। तो विल कर लिया है ना। डायरेक्शन प्रमाण करते हो तो कोई भी पाप नहीं। कोई बोझ नहीं। उसके लिए फ्री हो। डायरेक्शन तो समझते हो ना। सब डायरेक्शन मिले हुए हैं! क्लीयर हैं ना! कभी मूँझते तो नहीं? इस कार्य में यह करें या नहीं करें, ऐसे मूँझते तो नहीं? जहाँ भी कुछ मूँझ हो तो जो निमित्त बने हुए हैं उन्हों से वेरीफाय कराओ या फिर स्व स्थिति शक्तिशाली है तो अमृतवेले की टचिंग सदा यथार्थ होगी। अमृतवेले मन का भाव मिक्स करके नहीं बैठो लेकिन प्लेन बुद्धि होकर बैठो फिर टचिंग यथार्थ होगी।

कई बच्चे जब कोई प्राबलम आती है तो अपने ही मन का भाव भर करके बैठते हैं। करना तो यही चाहिए, होना तो यही चाहिए, मेरे विचार से यह ठीक है… तो टचिंग भी यथार्थ नहीं होती। अपने मन के संकल्प का ही रेसपान्ड में आता है इसलिए कहाँ न कहाँ सफलता नहीं होती। फिर मूंझते हैं कि अमृतवेले डायरेक्शन तो यही मिला था फिर पता नहीं ऐसा क्यों हुआ, सफलता क्यों नहीं मिली! लेकिन मन का भाव जो मिक्स किया, उस भाव का ही फल मिल जाता है। मनमत का फल क्या मिलेगा? मूंझेगा ना! इसको कहा जाता है अपने मन के संकल्प को भी विल करना। मेरा संकल्प यह कहता है लेकिन बाबा क्या कहता। अच्छा!

टीचर्स से:- बापदादा का टीचर्स से विशेष प्यार है क्योंकि समान हैं। बाप भी टीचर और आप मास्टर टीचर। वैसे भी समान प्यारे लगते हैं। बहुत अच्छा उमंग-उत्साह से सेवा में आगे बढ़ रही हो। सभी चक्रवर्ती हो। चक्र लगाते अनेक आत्माओं के सम्बन्ध में आए, अनेक आत्माओं को समीप लाने का कार्य कर रही हो। बापदादा खुश हैं। ऐसा लगता है ना कि बापदादा हमारे पर खुश हैं, या समझती हो कि अभी थोड़ा सा कुछ करना है। खुश हैं और भी खुश करना है। मेहनत अच्छी करती हो, मेहनत मुहब्बत से करती हो इसलिए मेहनत नहीं लगती। बापदादा सर्विसएबुल बच्चों को सदा ही सिर का ताज कहते हैं। सिरताज हो। बापदादा बच्चों के उमंग-उत्साह को देख और आगे उमंग-उत्साह बढ़ाने का सहयोग देते हैं। एक कदम बच्चों का, पदम कदम बाप के। जहाँ हिम्मत है वहाँ उल्लास की प्राप्ति स्वत: होती है। हिम्मत है तो बाप की मदद है, इसलिए बेपरवाह बादशाह हो, सेवा करते चलो। सफलता मिलती रहेगी। अच्छा –

आबू सम्मेलन में आये हुए मेहमानों से मुलाकात(13-2-84)

1-(डा.जोन्हा) असिस्टेन्ट पोट्री जनरल, यू.एन.ओ.)

बापदादा बच्चे के दिल के संकल्प को सदा ही सहयोग देते पूर्ण करते रहेंगे। जो आपका संकल्प है उसी संकल्प को साकार में लाने के योग्य स्थान पर पहुँच गये हो। ऐसे समझते हो कि यह सब मेरे संकल्प को पूरा करने वाले साथी हैं। सदा शान्ति का अनुभव याद से करते रहेंगे। बहुत मीठी सुखमय शान्ति की अनुभूति होती रहेगी। शान्ति प्रिय परिवार में पहुँच गये हो इसलिए सेवा के निमित्त बने। सेवा के निमित्त बनने का रिटर्न जब भी बाप को याद करेंगे तो सहज सफलता का अनुभव करते रहेंगे। अपने को सदा ”मैं शान्ति स्वरूप आत्मा हूँ, शान्ति के सागर का बच्चा हूँ। शान्ति प्रिय आत्मा हूँ” इस स्मृति में रहना और इसी अनुभव द्वारा जो भी सम्पर्क में आये उन्हों को सन्देशी बन सन्देश देते रहना। यही अलौकिक आक्यूपेशन सदा श्रेष्ठ कर्म और श्रेष्ठ कर्म द्वारा श्रेष्ठ प्राप्ति कराता रहेगा। वर्तमान और भविष्य दोनों ही श्रेष्ठ रहेंगे। शान्ति का अनुभव करने वाली योग्य आत्मा हो। सदा शान्ति के सागर में लहराते रहना।

जब भी कोई कार्य में मुश्किल हो तो शान्ति के फरिश्तों से अपना सम्पर्क रखेंगे तो मुश्किल सहज हो जायेगी। समझा। फिर भी बहुत भाग्यवान हो। इस भाग्य विधाता की धरनी पर पहुँचने वाले कोटों में कोई, कोई में भी कोई होते हैं। भाग्यवान तो बन ही गये। अभी पद्मापदम भाग्यवान जरूर बनना है। ऐसा ही लक्ष्य है ना! जरूर बनेंगे सिर्फ शान्ति के फरिश्तों का साथ रखते रहना। विशेष आत्मायें, विशेष पार्ट बजाने वाली आत्मायें यहाँ पहुँचती हैं। आपका आगे भी विशेष पार्ट है जो आगे चल मालूम पड़ता जायेगा। यह कार्य तो सफल हुआ ही पड़ा है। सिर्फ जो भी श्रेष्ठ भाग्य बनाने वाली हैं उन्हों का भाग्य बनाने के लिए यह सेवा का साधन है। यह तो हुआ ही पड़ा है, यह अनेक बार हुआ है। आपका संकल्प बहुत अच्छा है। और जो भी आपके साथी हैं, जो यहाँ से होकर गये हैं, स्नेही हैं, सहयोगी हैं। उन सबको भी विशेष स्नेह के पुष्पों के साथ-साथ बापदादा का याद-प्यार देना।

2- मैडम अनवर सादात से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात – इजिप्ट के लिए सन्देश

अपने देश में जाकर धन की एकानामी का तरीका सिखलाना। मन की खुशी से धन की अनुभूति होती है। और धन की एकानामी ही मन की खुशी का आधार है। ऐसे धन की एकानामी और मन की खुशी का साधन बताना तो वे लोग आपको धन और मन की खुशी देने वाले – खुशी के फरिश्ते अनुभव करेंगे। तो अभी यहाँ से शान्ति और खुशी का फरिश्ता बनकर जाना। इस शान्ति कुण्ड के सदा अविनाशी के वरदान को साथ रखना। जब भी कोई बात सामने आये तो ”मेरा बाबा” कहने से वह बात सहज हो जायेगी। सदा उठते ही पहले बाप से मीठी-मीठी बातें करना और दिन में भी बीच-बीच में अपने आपको चेक करना कि बाप के साथ हैं! और रात को बाप के साथ ही सोना, अकेला नहीं सोना। तो सदा बाप का साथ अनुभव करती रहेंगी। सभी को बाप का सन्देश देती रहेंगी। आप बहुत सेवा कर सकती हो क्योंकि इच्छा है सभी को खुशी मिले, शान्ति मिले, जो दिल की इच्छा है उससे जो कार्य करते हैं उसमें सफलता मिलती ही है। अच्छा! ओम शान्ति!

वरदान:- सर्व संबंध एक बाप से जोड़कर माया को विदाई देने वाले सहजयोगी भव 
जहाँ संबंध होता है वहाँ याद स्वत: सहज हो जाती है। सर्व संबंधी एक बाप को बनाना ही सहजयोगी बनना है। सहजयोगी बनने से माया को सहज विदाई मिल जाती है। जब माया विदाई ले लेती है तब बाप की बंधाईयां बहुत आगे बढ़ाती हैं। जो हर कदम में परमात्म दुआयें, ब्राह्मण परिवार की दुआयें प्राप्त करते रहते हैं वह सहज उड़ते रहते हैं।
स्लोगन:- सदा बिजी रहने वाले बिजनेस मैन बनो तो कदम-कदम में पदमों की कमाई है।
Font Resize