daily murli 30 december

TODAY MURLI 30 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 December 2020

30/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at the confluence age you receive the blessing of truth from the true Father. Therefore you must never lie.
Question: What effort do you children definitely have to make in order to become viceless?
Answer: You definitely have to make the effort to become soul conscious. Practise only seeing the soul in the centre of the forehead. Consider yourself to be a soul as you talk to souls and listen to souls. Your vision should not fall on their bodies. This is the main effort you have to make and it is in this effort that there are obstacles. Practise as much as possible, “I am a soul, I am a soul.”
Song: Salutations to Shiva!

Om shanti. The Father has reminded you sweet children how the world cycle turns. Now, you children know that whatever you have come to know from the Father and the path that the Father has shown you are not known by anyone in the world. He has also explained the meaning of “Those who become the worthy-of-worship masters of the world then become worshippers.” You wouldn’t say this of the Supreme Soul. It has entered your awareness that this is absolutely right. Only the Father tells you the news of the beginning, the middle and the end of the world. No one else can be called the Ocean of Knowledge. This is not the praise of Shri Krishna. Krishna is the name of that soul’s body. He is a bodily being; he cannot have all this knowledge. You understand that soul is now receiving knowledge. This is a wonderful thing. No one but the Father can explain this. There are many sages and holy men who teach many different types of hatha yoga etc. All of that is the path of devotion. You don’t worship anyone in the golden age. You don’t become worshippers there. It is of them that it is said: They were worthy-of-worship deities. However, they are no longer that, those same worthy-of-worship ones have now become worshippers. The Father says: This one also used to perform worship. At this time the people of the whole world are worshippers. In the new world, there is only the one deity religion of those who are worthy of worship. You children are now aware that, according to the dramaplan, this is absolutely right. This is truly the Gita episode. It is just that they have changed the name in the Gita and you make effort to explain this. For 2500 years, they have been thinking that the Gita was spoken by Krishna. Now, it would take timewould it not, for them to understand in one birth that it was incorporeal God who spoke the Gita? He has also explained how tall and complicated the tree of devotion is. You can write that the Father is teaching you Raj Yoga. You children who have such faith can explain to others with that faith. If there isn’t that faith, you yourselves become confused about how to explain to others and are afraid that there might be some upheaval. You haven’t yet become fearless. You will be fearless when you become completely soul conscious. It is on the path of devotion that they have fear. All of you are brave warriors. No one in the world knows how to conquer Maya. You children now remember that the Father also told you previously: Manmanabhav! Only the Purifier Father comes and explains this to you. Although this term is mentioned in the Gita, no one can explain it. The Father says: Children, may you be soul conscious! These expressions in the Gita are like a pinch of salt in a sackful of flour. The Father instils faith in you about everything. Those who have faithful intellects become victorious. You are now claiming your inheritance from the Father. The Father says: You definitely have to live at home with your families. There is no need for all of you to come and live here. Service has to be done and centres have to be opened. You are the Salvation Army. You are the Godly mission. Previously, you belonged to the shudra mission of Maya, whereas you now belong to the Godly mission. You are very important. What praise is there of Lakshmi and Narayan? They rule in the same way that kings rule, but they are called, “Full of all virtues and the masters of the world”, because there is no other kingdom at that time. You children now understand how they became the masters of the world. We are now becoming deities. Therefore, how can we bow down to them? You have now become knowledge-full. Those who don’t have knowledge continue to bow their heads. You also now know everyone’s occupation. You can explain which pictures are right and which ones are wrong. You can also explain that this is the kingdom of Ravan and it is about to be set on fire. The haystack has to be set on fire. The world is said to be like a haystack. You have to explain the words that have been used. They have created many pictures on the path of devotion. In fact, originally, there is the worship of Shiv Baba and then of Brahma, Vishnu and Shankar. The Trimurti that they have created is right. Then, there are this Lakshmi and Narayan. Saraswati is also included with Brahma in the Trimurti. They create so many pictures on the path of devotion. They even worship Hanuman. You are becoming brave warriors. In the temple, some are portrayed riding elephants and others riding horses. However, how could any of them (the deities) be riding them like that? The Father says: Maharathis. A maharathi means one who rides an elephant. Therefore, they have portrayed them riding elephants. The meaning of how the alligator ate the elephant has also been explained to you. The Father explains: Maya, the alligator, sometimes swallows maharathis. You now understand this knowledge. Maya eats good maharathis. These things are aspects of knowledge. No one else can explain these things. The Father says: Become viceless and imbibe divine virtues. Every cycle, the Father says: Lust is the greatest enemy. It requires effort for you to gain victory over that. You belong to the Father of People. Therefore, you are brothers and sisters. In fact, you are originally souls. A soul is speaking to souls. You have to remember that it is the soul that hears everything through these ears. I am speaking to souls and not bodies. We souls are originally brothers. Then we become one another’s brothers and sisters. You have to relate this to brothers. Your vision should go towards the soul. I am speaking to my brother. Brother, are you listening? Yes, I, a soul, am listening. There is a child in Bikaneer who always writes “soul this” and “soul that”. “I, a soul, am writing through this body.” “I, a soul, think this.” “I, a soul, am doing this.” To become soul conscious requires effort. I, a soul, say “Namaste”. When Baba says “spiritual children” he has to look at the foreheads. It is the souls that listen. I am speaking to this soul. Similarly, your vision should fall on the soul that is in the centre of the forehead. Obstacles come when your vision falls on the body. Speak to souls! Look at the souls! Renounce body consciousness! This soul also understands that the Father is sitting in the centre of the forehead and that you say “namaste” to Him. Your intellects have the knowledge that each of you is a soul and that it is the soul that listens. Previously, you didn’t have this knowledge. You received those bodies in order to play your parts. This is why a name is given to each body. It is at this time that you have to become soul conscious in order to return home. Those names have been given to you to play your parts. No activity can take place without names. There will be business activity there too, but you will have become satopradhan. That is why there are no sinful actions there; you won’t perform any actions that are sinful. The kingdom of Maya doesn’t exist there. The Father says: You souls now have to return home. Those are old bodies. Then, you will go to the golden and silver ages. There is no need for knowledge there. Why are you given knowledge here? Because you are in a state of degradation. You will perform actions there too, but they will be neutral actions. The Father says: Let your hands do the work and your heart be with the Father! Souls remember the Father. In the golden age you are pure and so all your activities are true. In the tamopradhan kingdom of Ravan all your activities are false. This is why people go on pilgrimages etc. No one commits any sin in the golden age, so they do not have to go on pilgrimages etc. Whatever you do there is truthful. You have received the blessing of truth. There is no question of any vice there. There is no need for lies in any activities. Here, because of greed, they continue to cheat and steal. These things do not exist there. According to the drama, you become such flowers. That world is viceless, whereas this world is vicious. You have the whole play in your intellects. Only at this time do you have to make effort to become pure. Through the power of yoga, you become the masters of the world. The power of yoga is the main thing. The Father says: No one on the path of devotion has been able to attain Me by doing penance or having sacrificial fires etc. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. This knowledge is very easy and entertaining. It does require you to make effort too. It is this yoga, through which you become satopradhan, that is praised. Only the Father shows you the path to become satopradhan from tamopradhan. No one else can give you this knowledge. Even though some go to the moon and some even walk on water, that is not Raj Yoga. They cannot change from ordinary humans into Narayan. Here, you understand that you belonged to the original, eternal, deity religion and are now once again becoming that. You now remember that the Father also explained this to you in the previous cycle. The Father says: Those who have faithful intellects become victorious. If someone doesn’t have faith, he won’t come to listen. Even after having faithful intellects, some become those with doubtful intellects. Many very good maharathis also develop doubts. There is body consciousness because of just a small storm of Maya. Bap and Dada are combined. Shiv Baba gives you knowledge and then who knows whether He goes away or what happens? Should you ask Baba whether He is always here or if He goes away? You cannot ask the Father this question. The Father says: I am showing you the way to become pure from impure. I come and go; I have a lot of work to do. I come to the children and even have tasks accomplished through them. No one should have doubts about this. Your duty is to remember the Father. By having doubts, you fall. Maya slaps you very hard. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. You children have the faith that it really is only the Father who gives us this knowledge. No one else can give it. The Father knows that, in spite of this, so many fall even after having faith. You have to become pure. Therefore, the Father says: Constantly remember Me alone! Don’t get caught up in anything else. When you speak in that way, it is understood that you don’t have firm faith. First of all, understand the one thing through which your sins are absolved. There is no need to speak of useless matters. Your sins will be absolved by having remembrance of the Father. So, why do you get involved in other things? When you see that someone is becoming confused by the questions and answers, tell him: Forget those things and just make the effort to remember the one Father. When you develop doubt, you stop studying and then there’ll be no benefit. Explain after feeling their pulse. If they have any doubt, make them have firm faith in one point alone. You have to explain with great tact. You children should first of all have the faith that Baba has come and is making us pure. You have this happiness. If you don’t study, you fail. How could such a soul then be happy? At school, they have the same study, but some study and then earn hundreds of thousands, whereas others earn five to ten rupees. Your aim and objective is to change from ordinary humans into Narayan. A kingdom is being established. You are to change from ordinary humans into deities. Deities have a huge kingdom. To claim a high status in that depends on how you study and your activity. Your activities should be very good. Baba even says of himself: I haven’t yet reached my karmateet stage. I too have to become perfect; I haven’t become that yet. Knowledge is very easy. It is also easy to remember the Father, but you should at least do it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never stop studying by developing doubt about any aspect. In order to become pure, first of all remember the one Father. Don’t become involved in other matters.
  2. Obstacles come when your vision falls on bodies. Therefore, always look at the centre of the forehead. Consider yourselves to be souls and talk to souls. Become soul conscious. Become fearless when you do service.
Blessing: May you become an embodiment of power and destroy the iron-aged mountain of weaknesses with your determined thoughts.
When you are disheartened, influenced by a sanskar or adverse situation, attracted to a person or material comfort, give a finger of determined thoughts to the iron-aged mountain of all these weaknesses and destroy it for all time that is, become victorious. “Victory is the garland around your neck”. With this awareness, you will always be an embodiment of power. This is the return of love. Just as sakar Baba demonstrated this by becoming a pillar in his stage, follow the Father in the same way and become a pillar of all virtues.
Slogan: Facilities are for service, not for your luxury or comfort.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

30-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सत बाप द्वारा संगम पर तुम्हें सत्य का वरदान मिलता है इसलिए तुम कभी भी झूठ नहीं बोल सकते हो”
प्रश्नः- निर्विकारी बनने के लिए आप बच्चों को कौन सी मेहनत जरूर करनी है?
उत्तर:- आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत जरूर करनी है। भृकुटी के बीच में आत्मा को ही देखने का अभ्यास करो। आत्मा होकर आत्मा से बात करो, आत्मा होकर सुनो। देह पर दृष्टि न जाए – यही मुख्य मेहनत है, इसी मेहनत में विघ्न पड़ते हैं। जितना हो सके यह अभ्यास करो – कि “मैं आत्मा हूँ, मैं आत्मा हूँ।”
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। मीठे बच्चों को बाप ने स्मृति दिलाई है कि सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। अभी तुम बच्चे जानते हो हमने बाप से जो कुछ जाना है, बाप ने जो रास्ता बताया है, वह दुनिया में कोई नहीं जानता। आपेही पूज्य, आपेही पुजारी का अर्थ भी तुम्हें समझाया है, जो पूज्य विश्व के मालिक बनते हैं, वही फिर पुजारी बनते हैं। परमात्मा के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। अब तुम्हें स्मृति में आया कि यह तो बिल्कुल राइट बात है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार बाप ही सुनाते हैं, और किसको भी ज्ञान का सागर नहीं कहा जाता है। यह महिमा श्रीकृष्ण की नहीं है। कृष्ण नाम तो शरीर का है ना। वह शरीरधारी है, उनमें सारा ज्ञान हो न सके। अभी तुम समझते हो, उनकी आत्मा ज्ञान ले रही है। यह वन्डरफुल बात है। बाप बिगर कोई समझा न सके। ऐसे तो बहुत साधू-सन्त भिन्न-भिन्न प्रकार के हठयोग आदि सिखलाते रहते हैं। वह सब है भक्ति मार्ग। सतयुग में तुम कोई की भी पूजा नहीं करते हो। वहाँ तुम पुजारी नहीं बनते हो। उनको कहा ही जाता है – पूज्य देवी-देवता थे, अब नहीं है। वही पूज्य फिर अब पुजारी बने हैं। बाप कहते हैं यह भी पूजा करते थे ना। सारी दुनिया इस समय पुजारी है। नई दुनिया में एक ही पूज्य देवी-देवता धर्म रहता है। बच्चों को स्मृति में आया बरोबर ड्रामा के प्लैन अनुसार यह बिल्कुल राइट है। गीता एपीसोड बरोबर है। सिर्फ गीता में नाम बदल दिया है। जिस समझाने के लिए ही तुम मेहनत करते हो। 2500 वर्ष से गीता कृष्ण की समझते आये हैं। अब एक जन्म में समझ जाएं कि गीता निराकार भगवान ने सुनाई, इसमें टाइम तो लगता है ना। भक्ति का भी समझाया है, झाड़ कितना लम्बा-चौड़ा है। तुम लिख सकते हो बाप हमको राजयोग सिखा रहे हैं। जिन बच्चों को निश्चय हो जाता है तो वे निश्चय से समझाते भी हैं। निश्चय नहीं तो खुद भी मूंझते रहते हैं – कैसे समझायें, कोई हंगामा तो नहीं होगा। निडर तो अभी हुए नहीं हैं ना। निडर तब होंगे जब पूरे देही-अभिमानी बन जाएं, डरना तो भक्ति मार्ग में होता है। तुम सब हो महावीर। दुनिया में तो कोई नहीं जानते कि माया पर जीत कैसे पहनी जाती है। तुम बच्चों को अब स्मृति में आया है। आगे भी बाप ने कहा था मनमनाभव। पतित-पावन बाप ही आकर यह समझाते हैं, भल गीता में अक्षर है परन्तु ऐसे कोई समझाते नहीं। बाप कहते हैं बच्चे देही-अभिमानी भव। गीता में अक्षर तो हैं ना – आटे में नमक मिसल। हर एक बात का बाप निश्चय बिठाते हैं। निश्चयबुद्धि विजयन्ती।

तुम अभी बाप से वर्सा ले रहे हो। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में भी जरूर रहना है। सबको यहाँ आकर बैठने की दरकार नहीं। सर्विस करनी है, सेन्टर्स खोलने हैं। तुम हो सैलवेशन आर्मी। ईश्वरीय मिशन हो ना। पहले शूद्र मायावी मिशन के थे, अभी तुम इश्वरीय मिशन के बने हो। तुम्हारा महत्व बहुत है। इन लक्ष्मी-नारायण की क्या महिमा है। जैसे राजायें होते हैं, वैसे राज्य करते हैं। बाकी इन्हों को कहेंगे सर्वगुण सम्पन्न, विश्व का मालिक क्योंकि उस समय और कोई राज्य नहीं होता। अभी बच्चे समझ गये हैं – विश्व के मालिक कैसे बनें? अभी हम सो देवता बनते हैं तो फिर उन्हों को माथा कैसे झुका सकेंगे। तुम नॉलेजफुल बन गये हो, जिनको नॉलेज नहीं है वह माथा टेकते रहते हैं। तुम सबके आक्यूपेशन को अभी जान गये हो। चित्र रांग कौन से हैं, राइट कौन से हैं, वह भी तुम समझा सकते हो। रावण राज्य का भी तुम समझाते हो। यह रावण राज्य है, इनको आग लग रही है। भंभोर को आग लगनी है, भंभोर विश्व को कहा जाता है। अक्षर जो गाये जाते हैं उन पर समझाया जाता है। भक्ति मार्ग में तो अनेक चित्र बनाये हैं। वास्तव में असुल होती है – शिवबाबा की पूजा, फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की। त्रिमूर्ति जो बनाते हैं वह राइट है। फिर यह लक्ष्मी-नारायण बस। त्रिमूर्ति में ब्रह्मा-सरस्वती भी आ जाते हैं। भक्तिमार्ग में कितने चित्र बनाते हैं। हनुमान की भी पूजा करते हैं। तुम महावीर बन रहे हो ना। मन्दिर में भी कोई की हाथी पर सवारी, कोई की घोड़े पर सवारी दिखाई है। अब ऐसी सवारी थोड़ेही है। बाप कहते हैं महारथी। महारथी माना हाथी पर सवार। तो उन्होंने फिर हाथी की सवारी बना दी है। यह भी समझाया है कैसे गज को ग्राह खाते हैं। बाप समझाते हैं जो महारथी हैं, कभी-कभी उनको भी माया ग्राह हप कर लेती है। तुमको अभी ज्ञान की समझ आई है। अच्छे-अच्छे महारथियों को माया खा जाती है। यह हैं ज्ञान की बातें, इनका वर्णन कोई कर न सके। बाप कहते हैं निर्विकारी बनना है, दैवीगुण धारण करने हैं। कल्प-कल्प बाप कहते हैं – काम महाशत्रु है। इसमें है मेहनत। इस पर तुम विजय पाते हो। प्रजापिता के बने तो भाई-बहन हो गये। वास्तव में असल तुम हो आत्मायें। आत्मा, आत्मा से बात करती है। आत्मा ही इन कानों से सुनती है, यह याद रखना पड़े। हम आत्मा को सुनाते हैं, देह को नहीं। असुल में हम आत्मायें भाई-भाई हैं फिर आपस में भाई-बहन भी हैं। सुनाना तो भाई को होता है। दृष्टि आत्मा तरफ जानी चाहिए। हम भाई को सुनाते हैं। भाई सुनते हो? हाँ मैं आत्मा सुनता हूँ। बीकानेर में एक बच्चा है जो सदैव आत्मा-आत्मा कह लिखता है। मेरी आत्मा इस शरीर द्वारा लिख रही है। मुझ आत्मा का यह विचार है। मेरी आत्मा यह करती है। तो यह आत्म-अभिमानी बनना मेहनत की बात है ना। मेरी आत्मा नमस्ते करती है। जैसे बाबा कहते हैं – रूहानी बच्चे। तो भ्रकुटी तरफ देखना पड़े। आत्मा ही सुनने वाली है, आत्मा को मैं सुनाता हूँ। तुम्हारी नज़र आत्मा पर पड़नी चाहिए। आत्मा भ्रकुटी के बीच में है। शरीर पर नज़र पड़ने से विघ्न आते हैं। आत्मा से बात करनी है। आत्मा को ही देखना है। देह-अभिमान को छोड़ो। आत्मा जानती है – बाप भी यहाँ भ्रकुटी के बीच में बैठा है। उनको हम नमस्ते करते हैं। बुद्धि में यह ज्ञान है हम आत्मा हैं, आत्मा ही सुनती है। यह ज्ञान आगे नहीं था। यह देह मिली है पार्ट बजाने के लिए इसलिए देह पर ही नाम रखा जाता है। इस समय तुमको देही-अभिमानी बन वापिस जाना है। यह नाम रखा है पार्ट बजाने। नाम बिगर तो कारोबार चल न सके। वहाँ भी कारोबार तो चलेगी ना। परन्तु तुम सतोप्रधान बन जाते हो इसलिए वहाँ कोई विकर्म नहीं बनेंगे। ऐसा काम ही तुम नहीं करेंगे जो विकर्म बने। माया का राज्य ही नहीं। अब बाप कहते हैं – तुम आत्माओं को वापिस जाना है। यह तो पुराने शरीर हैं फिर जायेंगे सतयुग-त्रेता में। वहाँ ज्ञान की दरकार ही नहीं। यहाँ तुमको ज्ञान क्यों देते हैं? क्योंकि दुर्गति को पाये हुए हो। कर्म तो वहाँ भी करना है परन्तु वह अकर्म हो जाता है। अब बाप कहते हैं हथ कार डे.. आत्मा याद बाप को करती है। सतयुग में तुम पावन हो तो सारी कारोबार पावन होती है। तमोप्रधान रावण राज्य में तुम्हारी कारोबार खोटी हो जाती है, इसलिए मनुष्य तीर्थ यात्रा आदि पर जाते हैं। सतयुग में कोई पाप करते नहीं जो तीर्थों आदि पर जाना पड़े। वहाँ तुम जो भी काम करते हो वह सत्य ही करते हो। सत्य का वरदान मिल गया है। विकार की बात ही नहीं। कारोबार में भी झूठ की दरकार नहीं रहती। यहाँ तो लोभ होने के कारण मनुष्य चोरी ठगी करते हैं, वहाँ यह बातें होती नहीं। ड्रामा अनुसार तुम ऐसे फूल बन जाते हो। वह है ही निर्विकारी दुनिया, यह है विकारी दुनिया। सारा खेल बुद्धि में है। इस समय ही पवित्र बनने के लिए मेहनत करनी पड़े। योगबल से तुम विश्व के मालिक बनते हो, योगबल है मुख्य। बाप कहते हैं भक्ति मार्ग के यज्ञ तप आदि से कोई भी मेरे को प्राप्त नहीं करते। सतो-रजो-तमो में जाना ही है। ज्ञान बड़ा सहज और रमणीक है, मेहनत भी है। इस योग की ही महिमा है जिससे तुमको सतोप्रधान बनना है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाने का रास्ता बाप ही बतलाते हैं। दूसरा कोई यह ज्ञान दे न सके। भल कोई चन्द्रमा तक चले जाते हैं, कोई पानी से चले जाते हैं। परन्तु वह कोई राजयोग नहीं है। नर से नारायण तो नहीं बन सकते। यहाँ तुम समझते हो हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे जो फिर अब बन रहे हैं। स्मृति आई है। बाप ने कल्प पहले भी यह समझाया था। बाप कहते हैं निश्चयबुद्धि विजयन्ती। निश्चय नहीं तो वह सुनने आयेंगे ही नहीं। निश्चयबुद्धि से फिर संशयबुद्धि भी बन जाते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे महारथी भी संशय में आ जाते हैं। माया का थोड़ा तूफान आने से देह-अभिमान आ जाता है।

यह बापदादा दोनों ही कम्बाइन्ड हैं ना। शिवबाबा ज्ञान देते हैं फिर चले जाते हैं वा क्या होता है, कौन बताये। बाबा से पूछें क्या आप सदैव हो या चले जाते हो? बाप से तो यह नहीं पूछ सकते हैं ना। बाप कहते हैं मैं तुमको रास्ता बताता हूँ पतित से पावन होने का। आऊं, जाऊं, मुझे तो बहुत काम करने पड़ते हैं। बच्चों के पास भी जाता हूँ, उनसे कार्य कराता हूँ। इसमें संशय की कोई बात न लाए। अपना काम है – बाप को याद करना। संशय में आने से गिर पड़ते हैं। माया थप्पड़ ज़ोर से मार देती है। बाप ने कहा है बहुत जन्मों के अन्त के भी अन्त में मैं इनमें आता हूँ। बच्चों को निश्चय है बरोबर बाप ही हमें यह ज्ञान दे रहे हैं, और कोई दे न सके। फिर भी इस निश्चय से कितने गिर पड़ते हैं, यह बाप जानते हैं। तुमको पावन बनना है तो बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, और कोई बातों में नहीं पड़ो। तुम यह ऐसी बातें करते हो तो समझ में आता है – पक्का निश्चय नहीं है। पहले एक बात को समझो जिससे तुम्हारे पाप नाश होते हैं, बाकी फालतू बातें करने की दरकार नहीं। बाप की याद से विकर्म विनाश होंगे फिर और बातों में क्यों आते हो! देखो कोई प्रश्न-उत्तर में मूंझता है तो उसे बोलो कि तुम इन बातों को छोड़ एक बाप की याद में रहने का पुरुषार्थ करो। संशय में आया तो पढ़ाई ही छोड़ देंगे फिर कल्याण ही नहीं होगा। नब्ज देखकर समझाना है। संशय में है तो एक प्वाइंट पर खड़ा कर देना है। बहुत युक्ति से समझाना पड़ता है। बच्चों को पहले यह निश्चय हो – बाबा आया हुआ है, हमको पावन बना रहे हैं। यह तो खुशी रहती है। नहीं पढ़ेंगे तो नापास हो जायेंगे, उनको खुशी भी क्यों आयेगी। स्कूल में पढ़ाई तो एक ही होती है। फिर कोई पढ़कर लाखों की कमाई करते हैं, कोई 5-10 रूपया कमाते हैं। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही है नर से नारायण बनना। राजाई स्थापन होती है। तुम मनुष्य से देवता बनेंगे। देवताओं की तो बड़ी राजधानी है, उसमें ऊंच पद पाना वह फिर पढ़ाई और एक्टिविटी पर है। तुम्हारी एक्टिविटी बड़ी अच्छी होनी चाहिए। बाबा अपने लिए भी कहते हैं – अभी कर्मातीत अवस्था नहीं बनी है। हमको भी सम्पूर्ण बनना है, अभी बने नहीं हैं। ज्ञान तो बड़ा सहज है। बाप को याद करना भी सहज है परन्तु जब करें ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. किसी भी बात में संशय बुद्धि बन पढ़ाई नहीं छोड़नी है। पहले तो पावन बनने के लिए एक बाप को याद करना है, दूसरी बातों में नहीं जाना है।

2. शरीर पर नज़र जाने से विघ्न आते हैं, इसलिए भ्रकुटी में देखना है। आत्मा समझ, आत्मा से बात करनी है। आत्म-अभिमानी बनना है। निडर बनकर सेवा करनी है।

वरदान:- दृढ़ संकल्प द्वारा कमजोरियों रूपी कलियुगी पर्वत को समाप्त करने वाले समर्थी स्वरूप भव
दिलशिकस्त होना, किसी भी संस्कार वा परिस्थिति के वशीभूत होना, व्यक्ति वा वैभवों के तरफ आकर्षित होना – इन सब कमजोरियों रूपी कलियुगी पर्वत को दृढ़ संकल्प की अंगुली देकर सदाकाल के लिए समाप्त करो अर्थात् विजयी बनो। विजय हमारे गले की माला है – सदा इस स्मृति से समर्थी स्वरूप बनो। यही स्नेह का रिटर्न है। जैसे साकार बाप ने स्थिति का स्तम्भ बनकर दिखाया ऐसे फालो फादर कर सर्वगुणों के स्तम्भ बनो।
स्लोगन:- साधन सेवाओं के लिए हैं, आरामपसन्द बनने के लिए नहीं।

TODAY MURLI 30 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 December 2019

30/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything depends on remembrance. It is only by having remembrance that you can become sweet. It is only in this remembrance that there is the battle with Maya.
Question: Which secret of this drama do only you children think about and is worth churning deeply?
Answer: You know that anyone’s part in the drama cannot be performed twice in a cycle. All the parts that are performed by everyone in the whole world are completely new. You wonder how the days have been changing from the golden age until now; how the entire activity changes. The part that is recorded within each soul of 5000 years’ daily activities can never change. This tiny matter cannot enter the intellect of anyone except you children.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children: Sweetest children, are you able to see your future, most elevated faces and most elevated costumes? This is the most auspicious confluence age. You feel that you are to go into this one’s dynasty in the golden-aged, new world which is called the land of happiness. You are now becoming most elevated human beings for that place. Whilst sitting here, you should have these thoughts. When students are studying, their intellects are definitely aware: what they will become tomorrow. In the same way, whilst you sit here, you should be aware that you will go into the dynasty of Vishnu. Your intellects have now become alokik. Other human beings do not turn these things around in their intellects. This is not a common satsang. Whilst sitting here, you understand that you are sitting in the company of your true Baba, the One called Shiva. Shiv Baba is the Creator, so only He knows the beginning, the middle and the end of this creation. Only He gives us this knowledge. He gives it as though He is telling us a story of yesterday. Whilst sitting here, you remember that you have come here to be rejuvenated, that is, to exchange your present bodies for divine bodies. This soul says: This is my old, totally impure (tamopradhan) body. I will exchange it for a body like that one. Our aim and objective is so easy! The Teacher who is teaching you would surely be cleverer than you students who are studying. He is teaching you and showing you how to perform good acts. You understand that God, the Highest on High, is now teaching you and so He would definitely make you into deities. This study is for the new world. No one else knows about the new world at all. Lakshmi and Narayan are the masters of the new world. The deities would also be numberwise. Not everyone can be the same, because this is a kingdom. You should continue to have such thoughts. We souls are now remembering the pure Father in order to change from impure to pure. You souls remember your sweet Father. The Father Himself says: By remembering Me, you will become pure and satopradhan. Everything depends on the pilgrimage of remembrance. The Father would definitely ask you children for how long you remember Him. It is on this pilgrimage of remembrance that you battle with Maya. You understand what this battle is. This is not a pilgrimage, it is more like a battle. You have to remain very cautious in this. There is no question of storms of Maya in knowledge. You children say: I try to remember You but just one storm of Maya knocks me down. The number one storm is body consciousness. Then there are the storms of lust, anger, greed and attachment. You children say: Baba, I try very much to stay in remembrance so that no obstacles come, but, in spite of that, storms do come. Today, it would be anger and tomorrow, it would be a storm of greed. “Baba, today my stage was very good. I did not experience any storms throughout the whole day. I experienced great happiness. I remembered the Father with a lot of love and I even had tears of love.” By having remembrance of the Father, you will become very sweet. You also understand where you have reached by being defeated by Maya. No one understands this. People speak of hundreds of thousands of years, or they say that it has continued from the beginning of time. You would say: We are once again changing from humans into deities. Only the Father comes and gives this knowledge. Only the unique Father, the One without an image, can give this unique knowledge. The incorporeal One is called the One without an image. How does the incorporeal One give this knowledge? The Father Himself explains how He enters this body. In spite of that, people become confused and ask: “Does He always come in that same body?” This body has been made the instrument there cannot be the slightest change in the drama. Only you understand these things. You then explain them to others. It is souls that study. It is souls that study and teach. Souls are most valuable. Souls are eternal whereas bodies die. We souls are receiving the knowledge of the Creator and the beginning, middle and end of the 84 births of creation from the Supreme Father, the Supreme Soul. Who is receiving this knowledge? We souls. You souls have now understood the incorporeal world and the subtle region from the knowledgefull Father. Human beings do not know that they have to consider themselves to be souls. They consider themselves to be bodies and so they are dangling upside down. It is remembered that a soul is truth, a living being and an embodiment of bliss. The greatest praise is of the Supreme Soul. There is so much praise of the one Father. He alone is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You would not praise a mosquito etc. as much, saying that it removes sorrow and bestows happiness and is an ocean of knowledge. No, this praise belongs to the Father. You children too are master removers of sorrow and bestowers of happiness. You children didn’t have this knowledge previously. It was as though you had baby intellects. Little children don’t have knowledge nor do they have any defects. Therefore, because they are pure, they are called great souls. The smaller the child, the more the child is like a number one flower. It is as though he is in his completely karmateet stage. The child does not know about action, sinful action or neutral action and is therefore like a flower. He attracts everyone, just as the one Father attracts everyone. The Father has come to attract everyone and make them into fragrant flowers. Some still remain thorns. Those who are under the influence of the five vices are called thorns. The number one thorn is body consciousness. It is through this thorn that all other thorns take birth. A forest of thorns gives a lot of pain. There are many varieties of thorn in a forest. That is why this world is called the land of sorrow. There are no thorns in the new world, which is why that world is called the land of happiness. Shiv Baba creates the garden of flowers and Ravan changes it into the forest of thorns. This is why Ravan is burnt with branches of thorns, whereas flowers are offered to the Father. Only the Father and you children know about these things; no one else can know them. You children know that the same part cannot be played twice in the drama. It is in your intellects that all the parts that are performed by everyone in the world are new. Just think about it – how the days change from the golden age until now, how the whole of your activity changes. Each of you souls has a record of your activities of 5000 years recorded in you; it can never be changed. Each of you souls has your own part recorded within you. Even this little matter cannot enter the intellects of anyone. You now know the past, present and future of this drama. This is a school, where the Father teaches you to become pure by remembering Him. Did you ever think that the Father would come and teach you a study to become pure from impure? By studying this, you become the masters of the world. The books of the path of devotion are separate; they cannot be called a study. Without knowledge, how could there be salvation? Without the Father, how could you receive the knowledge with which you can attain salvation? Will you perform devotion when you are in salvation? No; there is an abundance of happiness there, so why should you perform devotion? It is only at this time that you receive this knowledge. The whole of this knowledge is inculcated by you souls. A soul doesn’t belong to any religion. When a soul adopts a body, he says what religion he belongs to. What is the religion of a soul? Firstly, each soul is like a point. Souls are embodiments of peace and they reside in the land of peace. The Father now explains that all children have a right over the Father. Many children who have been converted to other religions will emerge again and return to their original religion. All the leaves that moved away from the deity religion and were converted to other religions will return to their own place. First of all, you have to give the introduction of the Father. Everyone is confused about these things. Do you children understand who is now teaching you? The unlimited Father! Krishna is a bodily being. Brahma Baba is called Dada (elder brother). All of you are brothers. Then, everything depends on your status. Whatever the body of a brother is like, whatever the body of a sister is like, each soul is just a tiny star. All of this knowledge is recorded in tiny stars. A star without a body cannot speak. Each of you stars receives many organs with which to perform your parts. The world of you stars is completely separate from this world. Souls come here and adopt bodies. A body can be big or small. You souls remember your Father, and that too is whilst you are in bodies. Will you souls remember the Father when you are in the home? No; there, you are not aware of where you are. It is when souls and the Supreme Soul are both in bodies that their meeting can take place. It is remembered that souls and the Supreme Soul remained separated for a long period of time. For how long were they separated? Do you remember for how long you were separated? With every second passing, it has now been 5000 years. You are to begin again with year number one. This is an accurate account. If someone asks you when this one took birth, you can tell him accurately. Shri Krishna takes the number one birth. You cannot calculate the minute or second when Shiva takes birth. For Krishna, you can calculate the date, minute and second. Human clocks can make a difference in the calculation. You cannot tell when Shiv Baba comes but there cannot be the slightest difference in the moment He incarnates. You cannot say that He came when you had a vision of Him. No, you can just guess this, but you cannot calculate the minute or second. His incarnation is alokik (not physical). He comes at the time of the unlimited night. You can tell the moment when other incarnations take place; for instance, when a soul enters his body. The costume that a soul takes is at first small and then that costume gradually grows. The soul with his body comes out of the womb. You have to churn these things and then explain them to others. There are so many human beings and not one of them can be identical to another. Just as you have a large hall, so the stage on which you act out this unlimited play is so large. You children come here to change from human beings into Narayan and to claim a high status in the new world that the Father creates. However, this old world is going to be destroyed. The new world is being established through Baba and he then has to sustain it. It must definitely be when he sheds this body that he can then come again and sustain the new world. The old world has to be destroyed before then. This haystack has to be set on fire. At the end, only Bharat will remain. Everything else will be destroyed. Only a few will remain in Bharat. You are now making effort so that you don’t experience any punishment after destruction. If your sins are not absolved, there will be punishment experienced and you will not receive any status. When people ask you where you are going, tell them that you are going to meet Shiv Baba who has come in the body of Brahma. This Brahma is not Shiva. The more you know the Father, the more love you will have for Him. Baba says: Children, do not love anyone else. Break off your love with everyone else and connect it to just the One. This is just like those lovers and beloved; 108 become true lovers, but, even out of them, only eight become really true lovers. There is the rosary of eight. The nine jewels have been remembered. These are the eight beads and the ninth is Baba. There are eight main deities, and then the family up to the end of the silver age is of 16,108 princes and princesses. Baba shows you heaven on the palm of His hand. You children have the intoxication that you are becoming the masters of the world. You have to make this deal with Baba. It is said: Scarcely any businessmen would make this deal. There aren’t any such businessmen. So you children have to keep the enthusiasm of going to Baba, the One who resides up above. Because people don’t know Him, they just say that He will come at the end. It is now that same end of the iron age. It is the same time of the Gita and the Mahabharata. Those same Yadavas are now making those missiles. It is the same kingdom of those Kauravas and you are the same Pandavas standing here. You children are earning an income while you sit at home. God has come to you while you sit at home. This is why Baba tells you to earn your income. This life has been remembered as being as valuable as diamonds. You mustn’t now waste it by chasing after shells. You are now making the whole world into the kingdom of Rama (God). You are receiving power from Shiva. However, many people nowadays experience untimely death. Baba opens the locks on your intellects whereas Maya locks your intellects. You mothers have been given the urn of knowledge. He is the One who gives power to you innocent and weak ones. This is the nectar of knowledge. The knowledge written in the scriptures is not called nectar. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in the attraction of the one Father and become a fragrant flower. Burn all your thorns of body consciousness away in the fire of remembrance of your sweet Father.
  2. It is in this birth that is as valuable as diamonds that you have to accumulate an imperishable income. You must not waste it by chasing after worthless shells. Have true love for the one Father and stay in the company of One.
Blessing: May you finish any burden of old nature and sanskars and become a double-light angel.
Since you now belong to the Father, hand over all your burdens to the Father. If even a little burden of your old nature or sanskars remain, it will bring you down from up above. It will not allow you to experience the flying stage. Therefore, BapDada says: Hand over everything. If you keep Ravan’s propertywith you, you will receive sorrow. An angel means not to have the slightest trace of Ravan’s property. Burn away all the old accounts and you will then be said to be a double light angel.
Slogan: Watch the unlimited play while being fearless and cheerful and you will not fluctuate.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 December 2019

30-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सारा मदार याद पर है, याद से ही तुम मीठे बन जायेंगे, इस याद में ही माया की युद्ध चलती है”
प्रश्नः- इस ड्रामा में कौन सा राज़ बहुत विचार करने योग्य है? जिसे तुम बच्चे ही जानते हो?
उत्तर:- तुम जानते हो कि ड्रामा में एक पार्ट दो बार बज न सके। सारी दुनिया में जो भी पार्ट बजता है वह एक दो से नया। तुम विचार करते हो कि सतयुग से लेकर अब तक कैसे दिन बदल जाते हैं। सारी एक्टिविटी बदल जाती है। आत्मा में 5 हजार वर्ष की एक्टिविटी का रिकॉर्ड भरा हुआ है, जो कभी बदल नहीं सकता। यह छोटी सी बात तुम बच्चों के सिवाए और किसी की बुद्धि में नहीं आ सकती।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं-मीठे-मीठे बच्चे, तुम अपना भविष्य का पुरूषोत्तम मुख, पुरूषोत्तम चोला देखते हो? यह पुरूषोत्तम संगमयुग है ना। तुम फील करते हो कि हम फिर नई दुनिया सतयुग में इनकी वंशावली में जायेंगे, जिसको सुखधाम कहा जाता है। वहाँ के लिए ही तुम अभी पुरूषोत्तम बन रहे हो। बैठे-बैठे यह विचार आना चाहिए। स्टूडेन्ट जब पढ़ते हैं तो उनकी बुद्धि में यह जरूर रहता है-कल हम यह बनेंगे। वैसे तुम भी जब यहाँ बैठते हो तो भी जानते हो कि हम विष्णु की डिनायस्टी में जायेंगे। तुम्हारी बुद्धि अब अलौकिक है। और किसी मनुष्य की बुद्धि में यह बातें रमण नहीं करती होंगी। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। यहाँ बैठे हो, समझते हो सत बाबा जिसको शिव कहते हैं हम उनके संग में बैठे हैं। शिवबाबा ही रचयिता है, वही इस रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। वही यह नॉलेज देते हैं। जैसे कल की बात सुनाते हैं। यहाँ बैठे हो, यह तो याद होगा ना – हम आये हैं रिज्युवनेट होने अर्थात् यह शरीर बदल दैवी शरीर लेने। आत्मा कहती है हमारा यह तमोप्रधान पुराना शरीर है। इसको बदलकर ऐसा शरीर लेना है। कितनी सहज एम ऑब्जेक्ट है। पढ़ाने वाला टीचर जरूर पढ़ने वाले स्टुडेन्ट से होशियार होगा ना। पढ़ाते हैं, अच्छे कर्म भी सिखलाते हैं। अभी तुम समझते हो हमको ऊंच ते ऊंच भगवान पढ़ाते हैं तो जरूर देवी-देवता ही बनायेंगे। यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए। और किसको नई दुनिया का ज़रा भी पता नहीं है। यह लक्ष्मी-नारायण नई दुनिया के मालिक थे। देवी-देवतायें भी तो नम्बरवार होंगे ना। सब एक जैसे तो हो भी न सकें क्योंकि राजधानी है ना। यह ख्यालात तुम्हारे चलते रहने चाहिए। हम आत्मा अभी पतित से पावन बनने के लिए पावन बाप को याद करते हैं। आत्मा याद करती है अपने स्वीट बाप को। बाप खुद कहते हैं तुम मुझे याद करेंगे तो पावन सतोप्रधान बन जायेंगे। सारा मदार याद की यात्रा पर है। बाप जरूर पूछेंगे-बच्चे, मुझे कितना समय याद करते हो? याद की यात्रा में ही माया की युद्ध चलती है। तुम युद्ध भी समझते हो। यह यात्रा नहीं परन्तु जैसेकि लड़ाई है, इसमें ही बहुत खबरदार रहना है। नॉलेज में माया के तूफान आदि की बात नहीं। बच्चे कहते भी हैं बाबा हम आपको याद करते हैं, परन्तु माया का एक ही तूफान नीचे गिरा देता है। नम्बरवन तूफान है देह-अभिमान का। फिर है काम, क्रोध, लोभ, मोह का। बच्चे कहते हैं बाबा हम बहुत कोशिश करते हैं याद में रहने की, कोई विघ्न न आये परन्तु फिर भी तूफान आ जाते हैं। आज क्रोध का, कभी लोभ का तूफान आया। बाबा आज हमारी अवस्था बहुत अच्छी रही, कोई भी तूफान सारा दिन नहीं आया। बड़ी खुशी रही। बाप को बड़े प्यार से याद किया। स्नेह के आंसू भी आते रहे। बाप की याद से ही बहुत मीठे बन जायेंगे।

यह भी समझते हैं हम माया से हार खाते-खाते कहाँ तक आकर पहुँचे हैं। यह कोई समझते थोड़ेही हैं। मनुष्य तो लाखों वर्ष कह देते हैं या परम्परा कह देते। तुम कहेंगे हम फिर से अभी मनुष्य से देवता बन रहे हैं। यह नॉलेज बाप ही आकर देते हैं। विचित्र बाप ही विचित्र नॉलेज देते हैं। विचित्र निराकार को कहा जाता है। निराकार कैसे यह नॉलेज देते हैं। बाप खुद समझाते हैं मैं कैसे इस तन में आता हूँ। फिर भी मनुष्य मूँझते हैं। क्या एक इसी तन में आयेगा! परन्तु ड्रामा में यही तन निमित्त बनता है। ज़रा भी चेन्ज हो नहीं सकती। यह बातें तुम ही समझकर और दूसरों को समझाते हो। आत्मा ही पढ़ती है। आत्मा ही सीखती-सिखलाती है। आत्मा मोस्ट वैल्युबुल है। आत्मा अविनाशी है, सिर्फ शरीर खत्म होता है। हम आत्मायें अपने परमपिता परमात्मा से रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त के 84 जन्मों की नॉलेज ले रहे हैं। नॉलेज कौन लेते हैं? हम आत्मा। तुम आत्मा ने ही नॉलेजफुल बाप से मूलवतन, सूक्ष्मवतन को जाना है। मनुष्यों को पता ही नहीं है कि हमें अपने को आत्मा समझना है। मनुष्य तो अपने को शरीर समझ उल्टे लटक पड़े हैं। गायन है आत्मा सत, चित, आनन्द स्वरूप है। परमात्मा की सबसे जास्ती महिमा है। एक बाप की कितनी महिमा है। वही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है। मच्छर आदि की तो इतनी महिमा नहीं करेंगे कि वह दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, ज्ञान का सागर है। नहीं, यह है बाप की महिमा। तुम बच्चे भी मास्टर दु:ख हर्ता सुख कर्ता हो। तुम बच्चों को भी यह नॉलेज नहीं थी, जैसे बेबी बुद्धि थे। बच्चे में नॉलेज नहीं होती और कोई अवगुण भी नहीं होता है, इसलिए उसे महात्मा कहा जाता है क्योंकि पवित्र है। जितना छोटा बच्चा उतना नम्बरवन फूल। बिल्कुल ही जैसे कर्मातीत अवस्था है। कर्म-अकर्म-विकर्म को कुछ भी नहीं जानते हैं, इसलिए वह फूल है। सबको कशिश करते हैं। जैसे एक बाप सभी को कशिश करते हैं। बाप आये ही हैं सभी को कशिश कर खुशबूदार फूल बनाने। कई तो कांटे के कांटे ही रह जाते हैं। 5 विकारों के वशीभूत होने वाले को कांटा कहा जाता है। नम्बरवन कांटा है देह-अभिमान का, जिससे और कांटों का जन्म होता है। कांटों का जंगल बहुत दु:ख देता है। किस्म-किस्म के कांटे जंगल में होते हैं ना इसलिए इसको दु:खधाम कहा जाता है। नई दुनिया में कांटे नहीं होते इसलिए उसको सुखधाम कहा जाता है। शिवबाबा फूलों का बगीचा लगाते हैं, रावण कांटों का जंगल लगाता है इसलिए रावण को कांटों की झाड़ियों से जलाते हैं और बाप पर फूल चढ़ाते हैं। इन बातों को बाप जानें और बच्चे जानें और न जाने कोई।

तुम बच्चे जानते हो-ड्रामा में एक पार्ट दो बार बज न सके। बुद्धि में है सारी दुनिया में जो पार्ट बजता है वह एक-दो से नया। तुम विचार करो सतयुग से लेकर अब तक कैसे दिन बदल जाता है। सारी एक्टिविटी ही बदल जाती है। 5 हजार वर्ष की एक्टिविटी का रिकॉर्ड आत्मा में भरा हुआ है। वह कभी बदल नहीं सकता। हर आत्मा में अपना-अपना पार्ट भरा हुआ है। यह छोटी-सी बात भी कोई की बुद्धि में आ न सके। इस ड्रामा के पास्ट, प्रेजन्ट और फ्युचर को तुम जानते हो। यह स्कूल है ना। पवित्र बन बाप को याद करने की पढ़ाई बाप पढ़ाते हैं। यह बातें कभी सोची थी कि बाप आकर ऐसे पतित से पावन बनाने की पढ़ाई पढ़ायेंगे! इस पढ़ाई से ही हम विश्व के मालिक बनेंगे! भक्ति मार्ग के पुस्तक ही अलग हैं, उसको कभी पढ़ाई नहीं कहा जाता है। ज्ञान के बिना सद्गति हो भी कैसे? बाप बिना ज्ञान कहाँ से आये जिससे सद्गति हो। सद्गति में जब तुम होंगे तब भक्ति करेंगे? नहीं, वहाँ है ही अपार सुख, फिर भक्ति किसलिए करें? यह ज्ञान अभी ही तुम्हें मिलता है। सारा ज्ञान आत्मा में रहता है। आत्मा का कोई धर्म नहीं होता। आत्मा जब शरीर धारण करती है फिर कहते हैं फलाना इस-इस धर्म का है। आत्मा का धर्म क्या है? एक तो आत्मा बिन्दी मिसल है और शान्त स्वरूप है, शान्तिधाम में रहती है।

अभी बाप समझाते हैं सभी बच्चों का बाप पर हक है। बहुत बच्चे हैं जो और-और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं। वह फिर निकलकर अपने असली धर्म में आ जायेंगे। जो देवी-देवता धर्म छोड़ दूसरे धर्म में गये हैं वह सभी पत्ते लौट अपनी जगह पर आ जायेंगे। तुम्हें पहले-पहले तो बाप का परिचय देना है। इन बातों में ही सब मूँझे हुए हैं। तुम बच्चे समझते हो अभी हमें कौन पढ़ाते हैं? बेहद का बाप। कृष्ण तो देहधारी है, इनको (ब्रह्मा बाबा को) भी दादा कहेंगे। तुम सब भाई-भाई हो ना। फिर है मर्तबे के ऊपर। भाई का शरीर कैसा है, बहन का शरीर कैसा है। आत्मा तो एक छोटा सितारा है। इतनी सारी नॉलेज एक छोटे-से सितारे में है। सितारा शरीर के बिगर बात भी नहीं कर सकता। सितारे को पार्ट बजाने के लिए इतने ढेर आरगन्स मिले हुए हैं। तुम सितारों की दुनिया ही अलग है। आत्मा यहाँ आकर फिर शरीर धारण करती है। शरीर छोटा-बड़ा होता है। आत्मा ही अपने बाप को याद करती है। वह भी जब तक शरीर में है। घर में आत्मा बाप को याद करेगी? नहीं। वहाँ कुछ भी मालूम नहीं पड़ता-हम कहाँ हैं! आत्मा और परमात्मा दोनों जब शरीर में हैं तब आत्माओं और परमात्मा का मेला कहा जाता है। गायन भी है आत्मा और परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. कितना समय अलग रहे? याद आता है-कितना समय अलग रहे? सेकण्ड-सेकण्ड पास होते 5 हज़ार वर्ष बीत गये। फिर वन नम्बर से शुरू करना है, एक्यूरेट हिसाब है। अभी तुमसे कोई पूछे इसने कब जन्म लिया था? तो तुम एक्यूरेट बता सकते हो। श्रीकृष्ण ही पहले नम्बर में जन्म लेता है। शिव का तो कुछ भी मिनट सेकण्ड नहीं निकाल सकते। कृष्ण के लिए तिथि-तारीख, मिनट, सेकण्ड निकाल सकते हो। मनुष्यों की घड़ी में फ़र्क पड़ सकता है। शिवबाबा के अवतरण में तो बिल्कुल फ़र्क नहीं पड़ सकता। पता ही नहीं पड़ता कब आया? ऐसे भी नहीं, साक्षात्कार हुआ तब आया। नहीं, अन्दाज लगा सकते हैं। मिनट-सेकेण्ड का हिसाब नहीं बता सकते। उनका अवतरण भी अलौकिक है, वह आते ही हैं बेहद की रात के समय। बाकी और भी जो अवतरण आदि होते हैं, उनका पता पड़ता है। आत्मा शरीर में प्रवेश करती है। छोटा चोला पहनती है फिर धीरे-धीरे बड़ा होता है। शरीर के साथ आत्मा बाहर आती है। इन सभी बातों को विचार सागर मंथन कर फिर औरों को समझाना होता है। कितने ढेर मनुष्य हैं, एक न मिले दूसरे से। कितना बड़ा माण्डवा है। जैसे बड़ा हाल है, जिसमें बेहद का नाटक चलता है।

तुम बच्चे यहाँ आते हो नर से नारायण बनने के लिए। बाप जो नई सृष्टि रचते हैं उसमें ऊंच पद लेने के लिए। बाकी यह जो पुरानी दुनिया है वह तो विनाश होनी है। बाबा द्वारा नई दुनिया की स्थापना हो रही है। बाबा को फिर पालना भी करनी है। जरूर जब यह शरीर छोड़े तब फिर सतयुग में नया शरीर लेकर पालना करे। उसके पहले इस पुरानी दुनिया का विनाश भी होना है। भंभोर को आग लगेगी। पीछे यह भारत ही रहेगा बाकी तो खलास हो जायेंगे। भारत में भी थोड़े बचेंगे। तुम अब मेहनत कर रहे हो कि विनाश के बाद फिर सजायें न खायें। अगर विकर्म विनाश नहीं होंगे तो सजायें भी खायेंगे और पद भी नहीं मिलेगा। तुमसे जब कोई पूछते हैं तुम किसके पास जाते हो? तो बोलो, शिवबाबा के पास, जो ब्रह्मा के तन में आया हुआ है। यह ब्रह्मा कोई शिव नहीं है। जितना बाप को जानेंगे तो बाप के साथ प्यार भी रहेगा। बाबा कहते हैं बच्चे तुम और कोई को प्यार नहीं करो और संग प्यार तोड़ एक संग जोड़ो। जैसे आशिक माशूक होते हैं ना। यह भी ऐसे हैं। 108 सच्चे आशिक बनते हैं, उसमें भी 8 सच्चे-सच्चे बनते हैं। 8 की भी माला होती है ना। 9 रत्न गाये हुए हैं। 8 दानें, 9 वां बाबा। मुख्य हैं 8 देवतायें, फिर 16108 शहजादे शहजादियों का कुटुम्ब बनता है त्रेता अन्त तक। बाबा तो हथेली पर बहिश्त दिखलाते हैं। तुम बच्चों को नशा है कि हम तो सृष्टि के मालिक बनते हैं। बाबा से ऐसा सौदा करना है। कहते हैं कोई विरला व्यापारी यह सौदा करे। ऐसे कोई व्यापारी थोड़ेही हैं। तो बच्चे ऐसे उमंग में रहो हम जाते हैं बाबा के पास। ऊपर वाला बाबा। दुनिया को मालूम नहीं है, वो कहेंगे कि वह तो अन्त में आता है। अब वही कलियुग का अन्त है। वही गीता, महाभारत का समय है, वही यादव जो मूसल निकाल रहे हैं। वही कौरवों का राज्य और वही तुम पाण्डव खड़े हो।

तुम बच्चे अभी घर बैठे अपनी कमाई कर रहे हो। भगवान घर बैठे आया हुआ है इसलिए बाबा कहते हैं कि अपनी कमाई कर लो। यही हीरे जैसा जन्म अमोलक गाया हुआ है। अब इसको कौड़ी बदले खोना नहीं है। अब तुम इस सारी दुनिया को रामराज्य बनाते हो। तुमको शिव से शक्ति मिल रही है। बाकी आजकल कईयों की अकाले मृत्यु भी हो जाती है। बाबा बुद्धि का ताला खोलता है और माया बुद्धि का ताला बन्द कर देती है। अब तुम माताओं को ही ज्ञान का कलष मिला हुआ है। अबलाओं को बल देने वाला वह है। यही ज्ञान अमृत है। शास्त्रों के ज्ञान को कोई अमृत नहीं कहा जाता है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप की कशिश में रहकर खुशबूदार फूल बनना है। अपने स्वीट बाप को याद कर देह-अभिमान के कांटे को जला देना है।

2) इस हीरे तुल्य जन्म में अविनाशी कमाई जमा करनी है, कौड़ियों के बदले इसे गंवाना नहीं है। एक बाप से सच्चा प्यार करना है, एक के संग में रहना है।

वरदान:- पुराने स्वभाव-संस्कार के बोझ को समाप्त कर डबल लाइट रहने वाले फरिश्ता भव
जब बाप के बन गये तो सारा बोझ बाप को दे दो। पुराने स्वभाव संस्कार का थोड़ा बोझ भी रहा हुआ होगा तो ऊपर से नीचे ले आयेगा। उड़ती कला का अनुभव करने नहीं देगा इसलिए बाप-दादा कहते हैं सब दे दो। यह रावण की प्रापर्टी अपने पास रखेंगे तो दु:ख ही पायेंगे। फरिश्ता अर्थात् जरा भी रावण की प्रापर्टी न हो। सब पुराने खाते भस्म करो तब कहेंगे डबल लाइट फरिश्ता।
स्लोगन:- निर्भय और हर्षितमुख हो बेहद के खेल को देखो तो हलचल में नहीं आयेंगे।

TODAY MURLI 30 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 December 2018 :- Click Here

30/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/04/84

The importance of the Point (Zero).

Today, the Father, the Bestower of Fortune, has come to meet all His fortunate children. The Father, the Bestower of Fortune, is showing all of you children the extremely easy way to make your fortune. Simply know the account of the point. The calculation of zero is the easiest of all. Know the importance of the point and become great. All of you know very well the account of the easiest and the most significant point (zero), do you not? To speak of zero and to become a point. Become a point and remember the Father, the Point. You were a point and you must now remain stable in the stage of a point, become like the Father, the Point and celebrate meeting with Him. This age of celebrating a meeting is said to be the age of the flying stage. Brahmin life is for meeting and celebrating. Whilst doing everything with this method and whilst constantly performing actions, you always experience the karmateet stage of being free from any bondage of action (karma). You don’t enter any bondage of action but always stay in all relationships with the Father. The Karavanhar Father makes you into instruments and makes you do everything. Therefore, you yourselves become detached observers and this is how the awareness of this relationship makes you free from bondage. When you do everything in a relationship, there is no bondage. When you think “I did this” you have forgotten the relationship and created a bondage. The confluence age is the age of experiencing the stage of freedom from bondage, of having all relationships with the Father and of being liberated-in-life. Therefore, check whether you maintain all relationships or whether you enter into bondage. Where there is love in a relationship, there is attainment, whereas there is a tug of war in any bondage and, because of that tension, there is the upheaval of sorrow and peacelessness. Therefore, since the Father has taught you the easy account of the point, any bondage of the body has ended. The body is not yours. You have given it to the Father and it is therefore His. Your original bondage of “my body” has also ended. Would you say “my body”? Do you have that right now? How can you have a right over something you have given away? Have you given it or have you still kept it as yours? It isn’t that you say “It is Yours” and yet you still believe it belongs to you, is it?

When you say “Yours”, the bondage of any consciousness of “mine” would end. Any limited “mine” is a thread of attachment. Whether you call it a thread, a chain or a string, it ties you in bondage. When you say, “Everything is Yours”, you forge a relationship, the bondage breaks and it becomes a relationship. Any type of bondage, whether it is of the body, nature, sanskars or subservience of the mind proves that there is something lacking in your having all relationships with the Father at all times. Some children remain free from bondage all the time by having all relationships with the Father, whereas some children forge a relationship according to the time, for their own motives, and this is why they are deprived of receiving the unique spiritual pleasure of Brahmin life. Neither are they content with themselves nor are they able to receive the blessings of contentment from others. Brahmin life, the life of elevated relationships, is the life of receiving blessings from the Father and the whole Brahmin family. “Blessings” means good wishes and pure feelings. You Brahmins have taken birth on the basis of BapDada’s blessings and good wishes. The Father said: You are a fortunate, elevated, special soul. It was with your awareness of these blessings and boons, that is, with these good wishes and pure feelings, that you Brahmins took a new life and a new birth. Always continue to receive blessings. This is the speciality of the confluence age. However, the basis of all of this is the most elevated relationship. The relationship finishes the chains and bondages of any consciousness of “mine” in a second. The first form of a relationship is the easy aspect: the Father is a Point, I am point and all souls are points. Therefore, it is an account of a point. The Ocean of Knowledge is merged in this point. According to worldly calculation too, a point (zero) makes 10 into 100 and 100 into 1000. Continue to increase the zeroes and continue to increase the number. So, what is important? It is the point, is it not? Similarly, in Brahmin life, the basis of all attainments is the point.

Even uneducated people are easily able to understand a zero. No matter how busy or unwell someone is, or how weak his intellect is, anyone can know the account of a zero. Mothers are clever at calculating, aren’t they? So, always remember the account of a zero. Achcha.

You have reached your sweet home from all the different places. BapDada congratulates all of you children for making your fortune. You have come to your home. This home of yours is the home of the Bestower. Your own home is a place that gives rest and comfort to both the soul and the body. You are receiving rest and comfort, are you not? You have double attainment. You receive rest and comfort (aaram) and you also find Rama. So it is double attainment, is it not? Children are the decoration of the Father’s home. BapDada is looking at the children who are the decoration of the home. Achcha.

To those who are always free from bondage by having all relationships with One, to those who experience the karmateet stage, to those who always know the importance of the point and become great, to those who constantly receive the blessings of good wishes and pure feelings of contentment from all souls, to those who give such blessings to everyone, to those who always consider themselves to be detached observers and perform every action as instruments, to those who constantly experience such unique spiritual pleasure, to those who live lives of constant pleasure, to those who end all burdens, to such constantly fortunate souls, love, remembrance and namaste from the Father, the Bestower of Fortune.

BapDada meeting Dadis:

Time is going by at a very fast speed. Just as time is going by at a fast speed, similarly, all Brahmins are flying fast. Have you become so light, double light? There is now the special service to do of making others fly. Do you make others fly in this way? With which method are you going to make everyone fly? By listening to the classes, they have become those who conduct classes. With whatever topic you begin, they will all have points about that topic even before you begin! Therefore, have you made a plan as to which method you will use to make everyone fly? A method is now required to make everyone light. It is these burdens that make you go up and down. Some have one type of burden and others have another type of burden. Even if it is the burden of your own sanskars or of the gathering, no burden will allow you to fly. Now, even if some are able to fly, it is with the power of others. For instance, when you make a toy fly, what happens? It goes up and then comes down. It definitely flies, but it doesn’t fly all the time. Now, only when all Brahmin souls fly can they make all other souls fly and enable them to come close to the Father. There is no other method apart from making others fly and also flying yourself. The speed of flying is determined by the method. How many tasks have to be accomplished and how much time do you have?

Now, at least 900,000 Brahmins are needed at first. In fact, the number will be greater, but when you rule over the whole world, there will have to be at least 900,000. An elevated method is required according to the time. The elevated method is the method of making others fly. Make a plan for this. Prepare small gatherings. It has been so many years since the avyakt part began. So much time has gone by in taking sustenance from the corporeal form and also from the avyakt form. You now have to do something new. Make a plan. The cycle of flying and then coming down has now ended. There are 84 births and the cycle of 84 is remembered. Therefore, in the year 1984, only when you end this cycle will the discus of self-realisation bring distant souls close. What have they shown as a memorial? He sent the discus whilst sitting somewhere and the discus of self-realisation itself brought souls close. He didn’t go himself, but he just used his discus. Therefore, only when all that spinning has finished can you spin the discus of self-realisation. So, now, in the year 1984, use this method so that all limited cycles finish. This is what you have thought of, is it not? Achcha.

BapDada meeting teachers:

Teachers are those who are in the flying stage anyway. To become an instrument is the method to use for the flying stage. So, to become an instrument means that, according to the drama, you have found the method to use for the flying stage. You are the elevated souls who always attain success by using this method. To become an instrument is to have a lift. Therefore, those who go somewhere in a second by lift are those in the flying stage. You are not in the stage of descent, you are not those who fluctuate, but you are those who save others from fluctuating. You are not those who are affected by the heat of a fire, but you are those who extinguish the fire. So, attain success by using the method of being an instrument. To be a teacher means to have the feeling of being an instrument. This feeling of being an instrument enables you to attain all fruit automatically. Achcha.

Avyakt elevated versions –

Be free from the bondage of karma and become karmateet and bodiless.

In order to experience the bodiless or karmateet stage, become free from the body consciousness of any limited “mine, mine”. Become free from selfish intentions in both lokik (worldly) and alokik (spiritual) actions and relationships. Become free from the karmic accounts of the actions of your past births and from being influenced by any wasteful nature and sanskars due to the weakness of your present efforts. If any adverse situation of service, the gathering or matter makes your original or elevated stage shake then that is not a stage of being free from bondage. Become free from even this bondage. Let no type of illness of your old final body in this old world make your elevated stage fluctuate; become free from even this. It is destined for the illness to come, but for your stage to fluctuate – that is a sign of being trapped in a bondage. Have thoughts of the self, thoughts of knowledge and be a well-wisher. Become free from having thoughts about the illness of the body. This is said to be the karmateet stage.

Be a karma yogi and constantly be detached from any bondage of karma and always be loving to the Father: this is the karmateet and bodiless stage. To be karmateet does not mean to go beyond performing actions. Do not go beyond performing actions, but be detached from being trapped in any bondage of action. No matter how big a task may be, let it not feel like you are working, but as if you are playing a game. No matter what adverse situation arises, no matter if a soul comes in front of you to settle karmic accounts, even if any suffering of karma through the body continues to come in front of you, remain free from any limited desires, for this is the bodiless stage. While you have that body and are playing your part on the field of action with your physical senses, you cannot stay without performing actions for even a second. However, to remain beyond the bondage of action while performing action is the karmateet and bodiless stage. So, come into the relationship of karma through the physical senses, but do not get tied by any bondage of karma. Do not be influenced by any desire for some perishable fruit of karma. “Karmateet” means not be to influenced by karma, but to be a master, to be an authority and to have a relationship with your physical senses and make your physical senses act while you remain detached from short-term desires. You, the soul, the master, must not be dependent on actions, but as the authority, continue to have actions performed. Enable actions to be performed as the one performing actions. This is known as having a relationship of karma. A karmateet soul has a relationship, not a bondage.

“Karmateet” means to be beyond, that is, detached from the body, relations of the body, possessions connected with both lokik and alokik relations and bondages. Though the word “relationship” is used, if there is any dependency in relation to the body or relationships of the body, then that becomes a bondage. In the karmateet stage, because of knowing the secrets of relationship of karma and bondage of karma, you always remain happy in every situation. You would never get upset. Such a soul will be free from the bondage of any karmic account of his past births. Even if as a consequence of the karmic accounts of the past births, there is some illness of the body or even if the mind is in conflict with the sanskars of other souls, a karmateet soul would not be influenced by the suffering of karma, but would be a master and enable the account to be settled. To be a karma yogi and to settle the suffering of karma is the sign of becoming karmateet. With yoga, with a smile he would change the suffering of karma from being like a crucifix to a thorn and destroy it, that is, he would finish the suffering of karma. To be able to transform the suffering of karma with your stage of karma yoga is the karmateet stage. Wasteful thoughts are the subtle strings of some bondage of karma. A karmateet soul would experience goodness even in something bad. Such a soul would say that whatever is happening is good. I am good, the Father is good and the drama is good. This thought works like scissors to cut the bondages. When the bondages are cut away you will become karmateet.

In order to experience the bodiless stage, become free from the knowledge of desires. Such a soul who is free from any limited desires will be a kamdhenu, equal to the Father, who fulfils everyone’s desires. Just as all the Father’s treasure-stores are always full with treasures and there is no mention of any attainment that is missing, in the same way, always be full of all treasures like the Father. While playing your part in the world cycle, to remain free from the many spinnings of sorrow is the stage of liberation in life. In order to experience such a stage, be one who has all rights, one who is a master who makes all your physical senses act. Act and as soon as the deed is done, become detached. This is the practice of the bodiless stage.

Blessing: May you transform “mine” into “Yours”, be double light and experience the flying stage.
That perishable body and wealth and old mind are not yours, you have given them to the Father. The first thought you had was: Everything is “Yours”. The Father does not benefit by this, but you benefit, because when you say “mine”, you become trapped, whereas when you say “Yours”, you become detached. By saying “mine” you have a burden but by saying “Yours” you become double light and a trustee. Until someone becomes light, he cannot reach the highest stage. Only those who remain light can experience bliss through their flying stage. There is pleasure in remaining light.
Slogan: A powerful soul is one who cannot be influenced by any person or by matter.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 December 2018

To Read Murli 29 December 2018 :- Click Here
30-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 02-04-84 मधुबन

बिन्दू का महत्व

आज भाग्य-विधाता बाप सर्व भाग्यवान बच्चों से मिलने आये हैं। भाग्य विधाता बाप सभी बच्चों को भाग्य बनाने की अति सहज विधि बता रहे हैं। सिर्फ बिन्दु के हिसाब को जानो। बिन्दु का हिसाब सबसे सहज है। बिन्दु के महत्व को जाना और महान बने। सबसे सहज और महत्वशाली बिन्दु का हिसाब सभी अच्छी तरह से जान गये हो ना! बिन्दु कहना और बिन्दु बनना। बिन्दु बन बिन्दु बाप को याद करना है। बिन्दु थे और अब बिन्दु स्थिति में स्थित हो बिन्दु बाप समान बन मिलन मनाना है। यह मिलन मनाने का युग, उड़ती कला का युग कहा जाता है। ब्राह्मण जीवन है ही मिलने और मनाने के लिए। इसी विधि द्वारा सदा कर्म करते हुए कर्मों के बन्धन से मुक्त कर्मातीत स्थिति का अनुभव करते हो। कर्म के बन्धन में नहीं आते लेकिन सदा बाप के सर्व सम्बन्ध में रहते हो। करावन-हार बाप निमित्त बनाए करा रहे हैं। तो स्वयं साक्षी बन गये, इसलिए इस सम्बन्ध की स्मृति बन्धनमुक्त बना देती है। जहाँ सम्बन्ध से करते वहाँ बन्धन नहीं होता। मैंने किया, यह सोचा तो सम्बन्ध भूला और बन्धन बना! संगमयुग बन्धन-मुक्त, सर्व सम्बन्ध युक्त, जीवन-मुक्त स्थिति के अनुभव का युग है। तो चेक करो सम्बन्ध में रहते हो या बन्धन में आते? सम्बन्ध में स्नेह के कारण प्राप्ति है, बन्धन में खींचातान, टेन्शन के कारण दु:ख और अशान्ति की हलचल है इसलिए जब बाप ने बिन्दु का सहज हिसाब सिखा दिया तो देह का बन्धन भी समाप्त हो गया। देह आपकी नहीं है। बाप को दे दिया तो बाप की हुई। अब आपका निजी बन्धन, मेरा शरीर या मेरी देह – यह बन्धन समाप्त हुआ। मेरी देह कहेंगे क्या, आपका अधिकार है? दी हुई वस्तु पर आपका अधिकार कैसे हुआ? दे दी है वा रख ली है? कहना तेरा और मानना मेरा, यह तो नहीं है ना!

जब तेरा कहा तो मेरे-पन का बन्धन समाप्त हो गया। यह हद का मेरा, यही मोह का धागा है। धागा कहो, जंजीर कहो, रस्सी कहो, यह बन्धन में बांधता है। जब सब कुछ आपका है, यह सम्बन्ध जोड़ लिया तो बन्धन समाप्त हो सम्बन्ध बन जाता है। किसी भी प्रकार का बन्धन चाहे देह का, स्वभाव का, संस्कार का, मन के झुकाव का.. यह बन्धन सिद्ध करता है बाप से सर्व सम्बन्ध की, सदा के सम्बन्ध की कमजोरी है। कई बच्चे सदा और सर्व सम्बन्ध में बन्धन मुक्त रहते, और कई बच्चे समय प्रमाण मतलब से सम्बन्ध जोड़ते हैं, इसलिए ब्राह्मण जीवन का अलौकिक रूहानी मजा पाने से वंचित रह जाते हैं। न स्वयं, स्वयं से सन्तुष्ट और न दूसरों से सन्तुष्टता का आशीर्वाद ले सकते। ब्राह्मण जीवन श्रेष्ठ सम्बन्धों का जीवन है ही बाप और सर्व ब्राह्मण परिवार का आशीर्वाद लेने का जीवन। आशीर्वाद अर्थात् शुभ भावनायें, शुभ कामनायें। आप ब्राह्मणों का जन्म ही बापदादा की आशीर्वाद कहो, वरदान कहो, इसी आधार से हुआ है। बाप ने कहा आप भाग्यवान श्रेष्ठ विशेष आत्मा हो, इसी स्मृति रूपी आशीर्वाद वा वरदान से शुभ भावना, शुभ कामना से आप ब्राह्मणों का नया जीवन, नया जन्म हुआ है। सदा आशीर्वाद लेते रहना। यही संगमयुग की विशेषता है! लेकिन इन सबका आधार सर्व श्रेष्ठ सम्बन्ध है। सम्बन्ध मेरे-मेरे की जंजीरों को, बन्धन को सेकण्ड में समाप्त कर देता है। और सम्बन्ध का पहला स्वरूप वो ही सहज बात है – बाप भी बिन्दु, मैं भी बिन्दु और सर्व आत्मायें भी बिन्दु। तो बिन्दु का ही हिसाब हुआ ना। इसी बिन्दु में ज्ञान का सिन्धु समाया हुआ है। दुनिया के हिसाब में भी बिन्दु 10 को 100 बना देता और 100 को हजार बना देता है। बिन्दु बढ़ाते जाओ और संख्या बढ़ाते जाओ। तो महत्व किसका हुआ? बिन्दु का हुआ ना। ऐसे ब्राह्मण जीवन में सर्व प्राप्ति का आधार बिन्दु है।

अनपढ़ भी बिन्दु सहज समझ सकते हैं ना! कोई कितना भी व्यस्त हो, तन्दरूस्त न हो, बुद्धि कमजोर हो लेकिन बिन्दु का हिसाब सब जान सकते। मातायें भी हिसाब में तो होशियार होती हैं ना। तो बिन्दु का हिसाब सदा याद रहे। अच्छा!

सर्व स्थानों से अपने स्वीट होम में पहुँच गये। बापदादा भी सभी बच्चों को अपने भाग्य बनाने की मुबारक देते हैं। अपने घर में आये हैं। यही अपना घर दाता का घर है। अपना घर आत्मा और शरीर को आराम देने का घर है। आराम मिल रहा है ना! डबल प्राप्ति है। आराम भी मिलता, राम भी मिलता। तो डबल प्राप्ति हो गई ना! बाप के घर का बच्चे श्रृंगार हैं। बापदादा घर के श्रृंगार बच्चों को देख रहे हैं। अच्छा!

सदा सर्व सम्बन्ध द्वारा बन्धन मुक्त, कर्मातीत स्थिति का अनुभव करने वाले, सदा बिन्दु के महत्व को जान महान बनने वाले, सदा सर्व आत्माओं द्वारा सन्तुष्टता की शुभ भावना, शुभ कामना की आशीर्वाद लेने वाले, सर्व को ऐसी आशीर्वाद देने वाले, सदा स्वयं को साक्षी समझ निमित्त भाव से कर्म करने वाले, ऐसे सदा अलौकिक रूहानी मौज मनाने वाले, सदा मजे की जीवन में रहने वाले, बोझ को समाप्त करने वाले, ऐसे सदा भाग्यवान आत्माओं को भाग्य विधाता बाप की याद प्यार और नमस्ते।

दादियों से:- समय तीव्रगति से जा रहा है। जैसे समय तीव्रगति से चलता जा रहा है – ऐसे सर्व ब्राह्मण तीव्रगति से उड़ते हैं। इतने हल्के डबल लाइट बने हैं? अभी विशेष उड़ाने की सेवा है। ऐसे उड़ाती हो? किस विधि से सबको उड़ाना है? क्लास सुनते-सुनते क्लास कराने वाले बन गये। जो भी विषय आप शुरू करेंगे उसके पहले उस विषय की प्वाइंट्स सबके पास होंगी। तो कौन-सी विधि से उड़ाना है, इसका प्लैन बनाया है? अभी विधि चाहिए हल्का बनाने की। यह बोझ ही नीचे ऊपर लाता है। किसको कोई बोझ है, किसको कोई बोझ है। चाहे स्वयं के संस्कारों का बोझ, चाहे संगठन का… लेकिन बोझ उड़ने नहीं देगा। अभी कोई उड़ते भी हैं तो दूसरे के जोर से। जैसे खिलौना होता है उसको उड़ाते हैं, फिर क्या होता? उड़कर नीचे जा जाता। उड़ता जरूर है लेकिन सदा नहीं उड़ता। अभी जब सर्व ब्राह्मण आत्मायें उड़ें तब और आत्माओं को उड़ाकर बाप के नजदीक पहुँचा सकें। अभी तो उड़ाने के सिवाए, उड़ने के सिवाए और कोई विधि नहीं है। उड़ने की गति ही विधि है। कार्य कितना है और समय कितना है?

अभी कम से कम 9 लाख ब्राह्मण तो पहले चाहिए। ऐसे तो संख्या ज्यादा होगी लेकिन सारे विश्व पर राज्य करेंगे तो कम से कम 9 लाख तो हों। समय प्रमाण श्रेष्ठ विधि चाहिए। श्रेष्ठ विधि है ही उड़ाने की विधि। उसका प्लैन बनाओ। छोटे-छोटे संगठन तैयार करो। कितने वर्ष अव्यक्त पार्ट को भी हो गया! साकार पालना, अव्यक्त पालना कितना समय बीत गया। अभी कुछ नवीनता करनी है ना। प्लैन बनाओ। अब उड़ने और नीचे आने का चक्र तो पूरा हो। 84 जन्म हैं, 84 का चक्र गाया हुआ है। तो 84 में जब यह चक्र पूरा होगा तब स्वदर्शन चक्र दूर से आत्माओं को समीप लायेगा। यादगार में क्या दिखाते हैं? एक जगह पर बैठे चक्र भेजा और वह स्वदर्शन चक्र स्वयं ही आत्माओं को समीप ले आया। स्वयं नहीं जाते, चक्र चलाते हैं। तो पहले यह चक्र पूरे हों तब तो स्वदर्शन चक्र चलें। तो अभी 84 में यह विधि अपनाओ जो सब हद के चक्र समाप्त हों, ऐसे ही सोचा है ना। अच्छा!

टीचर्स से:- टीचर्स तो हैं ही उड़ती कला वाली! निमित्त बनना – यही उड़ती कला का साधन है। तो निमित्त बने हो अर्थात् ड्रामा अनुसार उड़ती कला का साधन मिला हुआ है। इसी विधि द्वारा सदा सिद्धि को पाने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। निमित्त बनना ही लिफ्ट है। तो लिफ्ट द्वारा सेकण्ड में पहुँचने वाले उड़ती कला वाले हुए। चढ़ती कला वाले नहीं, हिलने वाले नहीं, लेकिन हिलाने से बचाने वाले। आग की सेक में आने वाले नहीं लेकिन आग बुझाने वाले। तो निमित्त की विधि से सिद्धि को प्राप्त करो। टीचर्स का अर्थ ही है निमित्त भाव। यह निमित्त भाव ही सर्व फल की प्राप्ति स्वत: कराता है। अच्छा!

अव्यक्त महावाक्य – कर्मबन्धन मुक्त कर्मातीत, विदेही बनो

विदेही व कर्मातीत स्थिति का अनुभव करने के लिए हद के मेरे-मेरे के देह-अभिमान से मुक्त बनो। लौकिक और अलौकिक, कर्म और सम्बन्ध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त बनो। पिछले जन्मों के कर्मों के हिसाब-किताब वा वर्तमान पुरूषार्थ की कमजोरी के कारण किसी भी व्यर्थ स्वभाव-संस्कार के वश होने से मुक्त बनो। यदि कोई भी सेवा की, संगठन की, प्रकृति की परिस्थिति स्वस्थिति को वा श्रेष्ठ स्थिति को डगमग करती है – तो यह भी बन्धनमुक्त स्थिति नहीं है, इस बन्धन से भी मुक्त बनो। पुरानी दुनिया में पुराने अन्तिम शरीर में किसी भी प्रकार की व्याधि अपनी श्रेष्ठ स्थिति को हलचल में न लाये – इससे भी मुक्त बनो। व्याधि का आना, यह भावी है लेकिन स्थिति हिल जाना – यह बन्धनयुक्त की निशानी है। स्वचिन्तन, ज्ञान चिन्तन, शुभचिन्तक बनने का चिन्तन बदल शरीर की व्याधि का चिन्तन चलना – इससे मुक्त बनो – इसी को ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है।

कर्मयोगी बन कर्म के बन्धन से सदा न्यारे और सदा बाप के प्यारे बनो – यही कर्मातीत विदेही स्थिति है। कर्मातीत का अर्थ यह नहीं है कि कर्म से अतीत हो जाओ। कर्म से न्यारे नहीं, कर्म के बन्धन में फँसने से न्यारे बनो। कोई कितना भी बड़ा कार्य हो लेकिन ऐसे लगे जैसे काम नहीं कर रहे हैं लेकिन खेल कर रहे हैं। चाहे कोई भी परिस्थिति आ जाए, चाहे कोई आत्मा हिसाब-किताब चुक्तू करने वाली सामना करने भी आती रहे, चाहे शरीर का कर्म-भोग सामना करने आता रहे लेकिन हद की कामना से मुक्त रहना ही विदेही स्थिति है। जब तक यह देह है, कर्मेन्द्रियों के साथ इस कर्मक्षेत्र पर पार्ट बजा रहे हो, तब तक कर्म के बिना सेकण्ड भी रह नहीं सकते लेकिन कर्म करते हुए कर्म के बन्धन से परे रहना यही कर्मातीत विदेही अवस्था है। तो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म के सम्बन्ध में आना है, कर्म के बन्धन में नहीं बंधना है। कर्म के विनाशी फल की इच्छा के वशीभूत नहीं होना है। कर्मातीत अर्थात् कर्म के वश होने वाला नहीं लेकिन मालिक बन, अथॉरिटी बन कर्मेन्द्रियों के सम्बन्ध में आये, विनाशी कामना से न्यारा हो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म कराये। आत्मा मालिक को कर्म अपने अधीन न करे लेकिन अधिकारी बन कर्म कराता रहे। कराने वाला बन कर्म कराना – इसको कहेंगे कर्म के सम्बन्ध में आना। कर्मातीत आत्मा सम्बन्ध में आती है, बन्धन में नहीं।

कर्मातीत अर्थात् देह, देह के सम्बन्ध, पदार्थ, लौकिक चाहे अलौकिक दोनों सम्बन्ध से, बन्धन से अतीत अर्थात् न्यारे। भल सम्बन्ध शब्द कहने में आता है – देह का सम्बन्ध, देह के सम्बन्धियों का सम्बन्ध, लेकिन देह में वा सम्बन्ध में अगर अधीनता है तो सम्बन्ध भी बन्धन बन जाता है। कर्मातीत अवस्था में कर्म सम्बन्ध और कर्म बन्धन के राज़ को जानने के कारण सदा हर बात में राज़ी रहेंगे। कभी नाराज़ नहीं होंगे। वे अपने पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के बन्धन से भी मुक्त होंगे। चाहे पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के फलस्वरूप तन का रोग हो, मन के संस्कार अन्य आत्माओं के संस्कारों से टक्कर भी खाते हों लेकिन कर्मातीत, कर्म-भोग के वश न होकर मालिक बन चुक्तू करायेंगे। कर्मयोगी बन कर्मभोग चुक्तू करना – यह है कर्मातीत बनने की निशानी। योग से कर्मभोग को मुस्कराते हुए सूली से कांटा कर भस्म करना अर्थात् कर्मभोग को समाप्त करना। कर्मयोग की स्थिति से कर्मभोग को परिवर्तन कर देना – यही कर्मातीत स्थिति है। व्यर्थ संकल्प ही कर्मबन्धन की सूक्ष्म रस्सियां हैं। कर्मातीत आत्मा बुराई में भी अच्छाई का अनुभव करती है। वह कहेगी – जो होता है वह अच्छा है, मैं भी अच्छा, बाप भी अच्छा, ड्रामा भी अच्छा। यह संकल्प बन्धन को काटने की कैंची का काम करता है। बन्धन कट गये तो कर्मातीत हो जायेंगे।

विदेही स्थिति का अनुभव करने के लिए इच्छा मात्रम् अविद्या बनो। ऐसी हद की इच्छा मुक्त आत्मा सर्व की इच्छाओं को पूर्ण करने वाली बाप समान ‘कामधेनु’ होगी। जैसे बाप के सर्व भण्डारे, सर्व खजाने सदा भरपूर हैं, अप्राप्ति का नाम निशान नहीं है; ऐसे बाप समान सदा और सर्व खजानों से भरपूर बनो। सृष्टि चक्र के अन्दर पार्ट बजाते हुए अनेक दु:ख के चक्करों से मुक्त रहना – यही जीवनमुक्त स्थिति है। ऐसी स्थिति का अनुभव करने के लिए अधिकारी बन, मालिक बन सर्व कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले बनो। कर्म में आओ फिर कर्म पूरा होते न्यारे हो जाओ – यही है विदेही स्थिति का अभ्यास।

वरदान:- मेरे को तेरे में परिवर्तन कर उड़ती कला का अनुभव करने वाले डबल लाइट भव 
यह विनाशी तन और धन, पुराना मन मेरा नहीं, बाप को दे दिया। पहला संकल्प ही यह किया कि सब कुछ तेरा ..इसमें बाप का फ़ायदा नहीं, आपका फ़ायदा है क्योंकि मेरा कहने से फंसते हो और तेरा कहने से न्यारे हो जाते हो। मेरा कहने से बोझ वाले बन जाते और तेरा कहने से डबल लाइट, ट्रस्टी बन जाते। जब तक कोई हल्का नहीं बनते तब तक ऊंची स्थिति तक पहुंच नहीं सकते। हल्का रहने वाले ही उड़ती कला द्वारा आनंद की अनुभूति करते हैं। हल्का रहने में ही मजा है।
स्लोगन:- शक्तिशाली आत्मा वह है जिस पर कोई भी व्यक्ति वा प्रकृति अपना प्रभाव न डाल सके।
Font Resize