daily murli 30 august

TODAY MURLI 30 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 August 2020

30/08/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
13/03/86

The authority of experience is the basis of easy transformation.

Today, BapDada is seeing all His children who are images of support and images of upliftment. Each one of you children is an image of support who makes the world of today elevated and complete. Today, the world is calling out to the elevated souls who are the images of support in various forms and ways. It is you elevated souls who give all the unhappy, peaceless souls support, who give a drop to others, who show the path of happiness and peace to others, who give the divine eye to those who are without the eye of knowledge, who show the destination to wandering souls, who give the experience of attainment to souls who lack attainment and uplift them. There is one type of upheaval or other everywhere in the world.

In some places there is upheaval over wealth, in some places, there are many types of tension in people’s minds, in some cases there is upheaval because they are discontent with their lives, in some cases, there is upheaval because of the tamopradhan atmosphere of the elements. Everywhere, the world is in upheaval. At such a time, in a corner of the world, you are the stable and unshakeable souls. The world is in fear, whereas you have become fearless and are constantly singing and dancing in happiness. Even when the world adopts temporary facilities to sing and dance in happiness, those temporary facilities are, in fact, taking them further into the pyre of worry. Such souls of the world need the support of the experience of elevated, imperishable attainments. They have seen all supports, they have experienced everything and the sound emerging from everyone against their conscious wish is: We want something other than this. Those facilities and methods are not going to give them any experience of success. The sound in everyone’s mind is: We want something new. We want something else. All the temporary supports that have been created are like straw. They are looking for a real support. Having seen all temporary supports, attainments and methods, they are tired of them. Now, who will show such souls the right support, the real support, the imperishable support? It is all of you, is it not?

Compared with the world, there are only a few of you; you are few. However, in the memorial of the previous cycle they have still shown the five Pandavas in front of an unlimited army. The greatest authority of all is yours. Those with the authority of science, the authority of the scriptures,the authorityof political leadership, the authority of religion and many other authorities have already tried to transform the world on the basis of their authority. They have tried so many things. However, what authority do all of you have? The greatest authority is the experience of God. With the authority of this experience you can easily bring about elevated transformation in anyone. So, all of you have the special authority of this experience and this is why you say and will continue to say with pride, with certainty, with intoxication and with a guarantee: There is only one easy and right path. It can be attained from the One alone and it unites everyone. You give this message to everyone, do you not? This is why, today, BapDada is looking at the children who are embodiments of support and upliftment for the world. Look who have become instruments with BapDada! They are the supports of the world, but who have become those? Those who are ordinary. Those who are in the world’s vision are not in the Father’s vision, whereas those who are in the Father’s vision are not in the vision of the people of the world. Seeing you, they first smile and say: Can these be the ones? However, the Father does not do what the people of the world do. They want the famous, whereas the Father wants to glorify the name of those whose name and trace have been obliterated. He has to make the impossible, possible. He has to make ordinary ones, great. He has to make weak ones, very powerful. He has to make those who in worldly terms are uneducated knowledge-full. This is in the Father’s part. This is why, seeing the gathering of you children, BapDada also smiles, because it is you long-lost and now-found children who have become instruments to enable everyone to attain the most elevated fortune. The vision of people of the world is also now moving away from all other directions and coming towards the One. They now understand that what they have been unable to do, the Father is making happen in an incognito way. What did you see in the Kumbha mela just recently? That was what you saw, was it not? You saw how everyone was looking at you with such loving vision. This gradually has to be revealed. Religious leaders, political leaders and scientists are the three special authorities. All three are now coming closer in the elevated hope of having a glimpse of God in an ordinary form. They are still now looking through a veil; this veil has not been lifted. Because of looking through a veil, they are still confused. There is the veil of confusion of “Are they the ones or are there others somewhere else?” Nevertheless, at least their vision has been drawn. The veil is now to be removed. There are many types of veil. One is their leadership; the veil of their throne or their seat is also a big veil. It will still take time for them to come from behind their veil, but they have at least opened their eyes! The Kumbhakarnas have now awakened a little.

BapDada will definitely enable all souls of the world, that is, all His children, to have a right to their Father’s inheritance. No matter what they are like, they are still children. So, whether it is liberation or liberation-in-life, both forms of inheritance are available to the children. The Father has come to give the inheritance. They do not know that and it is not their fault, and so all of you also feel merciful towards them, do you not? You feel merciful and also enthusiastic that, no matter how, all souls should claim their right to their inheritance. Achcha.

Today, it is the turn of the Caribbean. All are extremely loved by BapDada. The individual speciality of each place is always in front of BapDada. In fact, BapDada always has the full chart of every child. However, seeing all the children, what is it that BapDada is particularly pleased about? That all the children are constantly busy doing service according to their own capacity. Doing service has become the special occupation of Brahmin life. Without doing service, this Brahmin life seems empty. If there isn’t service to do, you feel as though you have nothing to do. BapDada is especially pleased to see your enthusiasm to keep busy doing service. What is the speciality of Caribbean? They are the ones who always remain close (karib). BapDada is not looking at it in physical terms. Physically, you may be very far away, but you are close with your minds, are you not? The further away you live physically, accordingly, you receive a lift of especially experiencing the Father’s company, because the Father’s vision always remains on all the children everywhere. They remain merged in His vision. So, what would those who remain merged in the eyes be? Would they be far away or close? So, all of you are jewels who remain close. None of you are far away. You are both near and dear. If you were not near, you couldn’t have had zeal and enthusiasm. The Father’s company is making you constantly powerful and moving you forward.

Everyone is very happy to see all of you because you are making service grow with so much courage. BapDada knows that you all have just the one thought: We have to prepare the biggest rosary of all. We have to gather all those beads of the rosary that have been scattered everywhere, and make a rosary and present it to the Father. Throughout the whole year, you have had the enthusiasm that you have to bring this bouquet or rosary in front of the Father. So for one whole year, you make full preparations for this. This year, BapDada is seeing that the result of the growth of the centres abroad has been good. Whether it is a small bouquet or a big bouquet, each one has brought one in a practical form. So BapDada is also pleased to see His loving children of the previous cycle. You have made effort with love. Effort made with love does not feel like effort. So, a good group has come from all over. The thing that BapDada likes best is that all of you are always tireless in doing service and continue to move forward. The speciality of your success in service is that you never get disheartened. Today there are few, whereas tomorrow there will definitely be more. That is guaranteed. Therefore, wherever they receive the Father’s introduction and wherever the Father’s children have become instruments, there are definitely the Father’s children hidden there, and they will come here to claim their right according to the time. They will continue to come here. So, all of you are those who dance in happiness. You always remain happy. The Father is eternal, the children are eternal and the attainment is eternal. Your happiness is also eternal. You are those who always remain happy, the best of the best. When the waste is destroyed, only the best remains. To belong to Baba means constantly to have a right to imperishable treasures. So, a life where you have a right is the best life.

The foundation of service in the Caribbean has been laid through very special souls. The foundation of serving the Government was in Guyana, was it not? To spread the sound of the speciality of Raja Yoga to the Government is also a speciality. The Government has also continued to make effort to have three minutes of silence. The chance to come close to the Government started there, and a good result has been achieved and it is still emerging. In the course of the service they have done the Caribbean has also prepared special VIPs and, through one of those, many others are being served. Therefore, that too is a speciality. The official invitation you received was from a VIP, and so the Caribbean was the instrument to do that first. Today, you have become examples everywhere and are engaged in the service of giving enthusiasm and inspiration to many others. So, everyone will receive the fruit of this, will they not? Even now, you are still in connection with the Government. This is also a method with which to come into close connection. With the method of having a slight connectionthrough knowledge, you can give them an experience of your being especially unique in the service you do. In any meeting, whenever you become an instrument for service, even in worldly situations, speak your words in such a way that they experience something unique and loving. Therefore, that is also a chance for you to show your uniqueness and how loving you are whilst you are with them. So, pay a little more attention to this method and you can make this an elevated method of doing service. Those from Guyana have received this chance. You won a lottery for the chance to serve from the beginning. All the places have expanded very well. Now bring about one more speciality. Now prepare some of the well-known pandits of that place. There are many pandits in Trinidad and Guyana. They have come closer. They believe in the philosophy of Bharat. So, now prepare a group of pandits. Just as a group of holy men is being prepared in Haridwar, in the same way, prepare a group of pandits from there. With love, you can make them belong to you. First of all, bring them close with love. In Haridwar, that too was the result of love. Love enables them to reach Madhuban. If they come as far as Madhuban, they will also come as far as accepting knowledge. Where else would they go? So, now demonstrate this. Achcha.

What will Europe do? In numbers, you are not small. No matter what the numbers are, if the quality is good, then you are number one. You can bring those whom no one else has brought. It is not a big thing. When you have courage, the Father helps. When you children have courage, you receive help from the whole family and BapDada. This is why it is not a big thing. You can do whatever you want. Eventually, everyone has to come to the one place. Some have to come now and others have to come a little later. They have to come. No matter how happy they are, they still have a desire to attain something or other. Even if they are not distressed, because the atmosphere is OK, their temporary desires cannot be fulfilled until they have knowledge. One desire after another will continue to arise and desires do not give the experience of being constantly content. Those who are not unhappy still do not experience selfless love for God, a loving life, soul-conscious love or God’s love. No matter how much love they have, there cannot be selfless love anywhere else. They don’t have real love. So, everyone wants true love from the heart and love of the family. Can you find a family like this anywhere else? So, whatever attainment they experience to be lacking, explain to them about the attraction of that particular attainment. Achcha.

All of you are special souls. If you didn’t have some speciality, you could not have become Brahmin souls. It is your speciality that has enabled you to receive a Brahmin life. The greatest speciality of all is that you are a handful out of multimillions. So each one of you has your own speciality. Throughout the whole day, you have love for just the Father and for doing service. A worldly job has to be done for the sake of it, but let there be love in your heart for having remembrance and for doing service. Achcha.

Blessing: May you be loving and detached and remain beyond by constantly having the awareness of your original land and your original form.
Havingtheawareness of the incorporeal world and your incorporeal form always makes you detached and loving. We are residents of the incorporeal world and have incarnated here for the sake of serving. We do not belong to the mortal world, but are just incarnations. If you simply remember this small thing, you can go beyond. Those who do not consider themselves to be incarnations but householders have their vehicles stuck in the mud. “A householder” means the stage of burden, whereas an incarnation is completely light. By considering yourself to be an incarnation, you will remember your original land and your original form and will go beyond.
Slogan: A Brahmin is one who performs every task with cleanliness and in the right way.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

30-08-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 13-03-86 मधुबन

सहज परिवर्तन का आधार – अनुभव की अथॉरिटी

बापदादा अपने सर्व आधार मूर्त और उद्धारमूर्त बच्चों को देख रहे हैं। हर एक बच्चा आज के विश्व को श्रेष्ठ सम्पन्न बनाने के आधारमूर्त हैं। आज विश्व अपने आधारमूर्त श्रेष्ठ आत्माओं को भिन्न-भिन्न रूप से, भिन्न-भिन्न विधि से पुकार रहा है, याद कर रहा है। तो ऐसे सर्व दु:खी अशान्त आत्माओं को सहारा देने वाले, अंचली देने वाले, सुख-शांति का रास्ता बताने वाले, ज्ञान-नेत्रहीन को दिव्य नेत्र देने वाले, भटकती हुई आत्माओं को ठिकाना देने वाले, अप्राप्त आत्माओं को प्राप्ति की अनुभूति कराने वाले, उद्धार करने वाले आप श्रेष्ठ आत्मायें हो। विश्व के चारों ओर किसी न किसी प्रकार की हलचल है। कहाँ धन के कारण हलचल है, कहाँ मन के अनेक टेन्शन की हलचल है, कहाँ अपने जीवन से असन्तुष्ट होने के कारण हलचल है, कहाँ प्रकृति के तमोप्रधान वायुमण्डल के कारण हलचल है, चारों ओर हलचल की दुनिया है। ऐसे समय पर विश्व के कोने में आप अचल-अडोल आत्मायें हो। दुनिया भय के वश है और आप निर्भय बन सदा खुशी में नाचते गाते रहते हो। अगर दुनिया अल्पकाल के लिए खुशी के साधन नाचना गाना व और भी अनेक साधन अपनाती है तो वह अल्पकाल के साधन और ही चिंता की चिता पर ले जा रहे हैं। ऐसी विश्व की आत्माओं को अभी श्रेष्ठ अविनाशी प्राप्तियों की अनुभूति का आधार चाहिए। सब आधार देख लिए, सबका अनुभव कर लिया और सभी के मन का यही आवाज न चाहते भी निकलता है कि इससे कुछ और चाहिए। यह साधन यह विधियां सिद्धि की अनुभूतियां कराने वाली नहीं हैं। कुछ नया चाहिए, कुछ और चाहिए। यह सभी के मन का आवाज है। जो भी सहारे अल्पकाल के बने हैं, यह सभी तिनके समान सहारे हैं। वास्तविक सहारा ढूंढ रहे हैं, अल्पकाल के आधार से, अल्पकाल की प्राप्तियों से, विधियों से अभी देख-देख थक गये हैं। अभी ऐसी आत्माओं को यथार्थ सहारा, वास्तविक सहारा, अविनाशी सहारा बताने वाले कौन? आप सभी हो ना!

दुनिया के अन्तर में आप सभी अल्प हो, बहुत थोड़े हो लेकिन कल्प पहले के यादगार में भी अक्षौणी के सामने 5 पाण्डव ही दिखाये हैं। सबसे बड़े ते बड़ी अथॉरिटी आपके साथ है। साइन्स की अथॉरिटी, शास्त्रों की अथॉरिटी, राजनीति की अथॉरिटी, धर्मनीति की अथॉरिटी, अनेक अथॉरिटी वाले अपनी-अपनी अथॉरिटी प्रमाण दुनिया को परिवर्तन करने की ट्रायल कर चुके। कितने प्रयत्न किये हैं लेकिन आप सभी के पास कौन-सी अथॉरिटी है? सबसे बड़ी परमात्म अनुभूति की अथॉरिटी है। अनुभव की अथॉरिटी से श्रेष्ठ और सहज किसी को भी परिवर्तन कर सकते हो। तो आप सबके पास यही विशेष अनुभव की अथॉरिटी है इसलिए फलक से, निश्चय से, नशे से, निश्चित भाव से कहते हैं और कहेंगे कि सहज रास्ता, यथार्य रास्ता एक है। एक द्वारा ही प्राप्त होता है और सर्व को एक बनाता है। यही सभी को सन्देश देते हो ना इसलिए बापदादा आज आधार-मूर्त, विश्व उद्धार मूर्त बच्चों को देख रहे हैं। देखो – बापदादा के साथ निमित्त कौन बने हैं। हैं विश्व के आधार लेकिन बने कौन हैं? साधारण। जो दुनिया के लोगों की नज़रों में हैं वह बाप की नज़रों में नहीं है और जो बाप की नज़रों में हैं वह दुनिया वालों की नज़रों में नहीं हैं। आपको देखकर पहले तो मुस्करायेंगे कि यह हैं। लेकिन जो दुनिया वाले करते वह बाप नहीं करते। उन्हों को नामग्रामी चाहिए और बाप को, जिनका नामनिशान खत्म कर दिया, उनका ही नाम बाला करना है। असम्भव को सम्भव करना है, साधारण को महान बनाना, निर्बल को महान बलवान बनाना, दुनिया के हिसाब से जो अनपढ़ हैं, उन्हों को नॉलेजफुल बनाना – यही बाप का पार्ट है इसलिए बापदादा बच्चों की सभा को देख करके मुस्कराते भी हैं कि सबसे श्रेष्ठ भाग्य प्राप्त करने वाले यही सिकीलधे बच्चे निमित्त बन गये। अब दुनिया वालों की भी नज़र धीरे-धीरे और सब तरफ से हटकर एक तरफ आ रही है। अभी समझते हैं कि जो हम नहीं कर सके, वह बाप गुप्त रूप में करा रहे हैं। अभी कुम्भ मेले में क्या देखा? यही देखा ना! सभी कैसे स्नेह की नज़र से देखते हैं। यह धीरे-धीरे प्रत्यक्ष होना ही है। धर्मनेता, राजनेता और वैज्ञानिक यह विशेष तीनों अथॉरिटी हैं। अब तीनों ही साधारण रूप में परमात्म झलक देखने की श्रेष्ठ आशा से समीप आ रहे हैं। अभी भी घूंघट के अन्दर से देख रहे हैं, घूंघट नहीं खोला है। घूंघट के अन्दर से देखने के कारण अभी दुविधा में हैं। दुविधा का घूंघट है। यही हैं या और कोई हैं। लेकिन फिर भी नज़र गई है। अभी घूंघट भी मिट जायेगा। अनेक प्रकार के घूंघट हैं। एक अपने नेतापन का, गद्दी का या कुर्सी का घूंघट भी तो बहुत बड़ा है। उसी घूंघट से निकलना इसमें थोड़ा-सा अभी टाइम लगेगा लेकिन आंखे खोली हैं ना। कुम्भकरण अभी थोड़ा जागे हैं।

बापदादा विश्व की सर्व आत्माओं अर्थात् बच्चों को बाप का वर्सा प्राप्त कराने के अधिकारी जरूर बनायेंगे। चाहे कैसे भी हैं लेकिन है तो बच्चे ही। तो बच्चों को चाहे मुक्ति चाहे जीवनमुक्ति दोनों ही वर्सा है। वर्सा देने के लिए ही बाप आये हैं। अन्जान हैं ना! उन्हों का भी दोष नहीं है इसलिए आप सभी को भी रहम आता है ना। रहम भी आता है, उमंग भी आता है कि कैसे भी वर्से का अधिकार सर्व आत्मायें ले ही लें। अच्छा! आज करेबियन का टर्न है। हैं तो सभी बापदादा के अति लाडले। हर एक स्थान की अपनी-अपनी विशेषता बापदादा के आगे सदा ही प्रत्यक्ष रहती है। वैसे तो बापदादा के पास हर बच्चे का पूरा ही पोतामेल रहता ही है। लेकिन बापदादा को सभी बच्चों को देख खुशी है, किस बात की? सभी बच्चे अपनी-अपनी शक्ति प्रमाण सेवा के उमंग में सदा रहते हैं। सेवा, ब्राह्मण जीवन का विशेष आक्यूपेशन बन गया है। सेवा के बिना यह ब्राह्मण जीवन खाली सी लगती है। सेवा नहीं हो तो जैसे फ्री-फ्री है। तो सेवा में बिजी रहने का उमंग देख बापदादा विशेष खुश होते हैं। कैरेबियन की विशेषता क्या है? सदा करीब अर्थात् नजदीक रहने वाले हैं। बापदादा स्थूल को नहीं देखते, वह तो शरीर से कितना भी दूर हो लेकिन मन से करीब हो ना। जितना शरीर से दूर रहते हैं उतना ही विशेष बाप के साथ का अनुभव करने की लिफ्ट मिलती है क्योंकि बाप की सदा ही चारों ओर के बच्चों की तरफ नज़र रहती है। नज़र में समाये हुए रहते हैं। तो नज़र में समाये हुए क्या होंगे? दूर होंगे या नजदीक होंगे? तो सब नजदीक रत्न हो। कोई भी दूर नहीं है। नियर और डियर दोनों ही है। अगर नियर नहीं होते तो उमंग-उत्साह आ नहीं सकता। सदा बाप का साथ शक्तिशाली बनाए आगे बढ़ा रहा है।

आप सभी को देख सब खुश हो रहे हैं कि कितनी हिम्मत रख सेवा की वृद्धि को प्राप्त कर रहे हैं। बाप-दादा जानते हैं कि सभी का एक ही संकल्प है कि सबसे बड़े ते बड़ी माला हमें तैयार करनी है। और जो भी जहाँ भी माला के मणके बिखरे हुए हैं उन मणकों को इकट्ठा कर माला बनाए बाप के सामने ले आते हैं। पूरा ही साल यह उमंग रहता है कि अभी यह गुलदस्ता या माला बाप के आगे ले जाएं। तो एक वर्ष पूरी तैयारी करते रहते हैं। इस वर्ष बापदादा सभी विदेश के सेवाकेन्द्राsं के वृद्धि की रिजल्ट अच्छी देख रहे हैं। हर एक ने कोई न कोई चाहे छोटा गुलदस्ता चाहे बड़ा गुलदस्ता लेकिन प्रत्यक्ष फल के रूप में लाया है। तो बापदादा भी अपने कल्प पहले वाले स्नेही बच्चों को देख खुश होते हैं। प्यार से मेहनत की है। प्यार की मेहनत, मेहनत नहीं लगती है। तो हरेक तऱफ से अच्छा ग्रुप आया है। बापदादा को सबसे अच्छी बात यही लगती है कि सदा ही सेवा में अथक बन आगे बढ़ रहे हैं। और यही सेवा के सफलता की विशेषता है कि कभी भी दिलशिकस्त नहीं होना। आज थोड़े हैं कल ज्यादा होने ही हैं – यह निश्चित है, इसलिए जहाँ बाप का परिचय मिला है बाप के बच्चे निमित्त बने हैं, वहाँ अवश्य बाप के बच्चे छिपे हुए हैं जो समय प्रमाण अपना हक लेने के लिए पहुंच रहे हैं, और पहुंचते रहेंगे। तो सभी खुशी में नाचने वाले हैं। सदा खुश रहने वाले हैं। अविनाशी बाप अविनाशी बच्चे हैं तो प्राप्ति भी अविनाशी है। खुशी भी अविनाशी है। तो सदा खुश रहने वाले, सदा ही बेस्ट ते बेस्ट है। वेस्ट (व्यर्थ) खत्म हो गया तो बाकी बेस्ट (अच्छा) ही रहा। बाबा का बनना अर्थात् सदा के लिए अविनाशी खजाने के अधिकारी बनना। तो अधिकारी जीवन बेस्ट जीवन है ना।

कैरेबियन में सेवा का फाउन्डेशन विशेष – विशेष आत्माओं का रहा। गवर्मेन्ट की सेवा का फाउन्डेशन तो ग्याना में ही पड़ा ना, और गवर्मेन्ट तक राजयोग की विशेषता का आवाज फैलाना, यह भी विशेषता है। गवर्मेन्ट भी तीन मिनट के लिए साइलेन्स का प्रयत्न करती तो रही न। गवर्मेन्ट के समीप आने का चांस यहाँ ही शुरू हुआ और रिजल्ट भी अच्छी निकली है और अभी भी निकल रही है। कैरेबियन ने सेवा में विशेष वी.आई.पी. भी तैयार किया। जिस एक से अनेकों की सेवा हो रही है तो यह भी विशेषता है ना। निमंत्रण ही ऐसा विधिपूर्वक वी.आई.पी. रूप से मिला यह भी फर्स्ट निमित्त तो कैरेबियन ही बना। आज चारों ओर एक्जैम्पुल बन अनेकों को उमंग प्रेरणा देने की सेवा में लगे हुए हैं। यह भी फल तो सभी को मिलेगा ना। अभी भी गवर्मेन्ट के कनेक्शन में हैं। यह भी एक समीप कनेक्शन में आने की विधि है। इस विधि को और भी थोड़ा-सा ज्ञान युक्त कनेक्शन में आते हुए न्यारेपन की सेवा का अनुभव करा सकते हैं। किसी भी मीटिंग में जिस समय भी सेवा करने के निमित्त बनते हैं, चाहे लौकिक बातें हो लेकिन लौकिक बातों में भी ऐसे ढंग से अपने बोल बोलें जिससे न्यारापन भी अनुभव हो और प्यारापन भी अनुभव हो। तो यह भी एक चांस है कि सभी के साथ होते भी अपना न्यारा और प्यारापन दिखा सकते हैं इसलिए इस विधि को और भी थोड़ा अटेन्शन दे सेवा का साधन श्रेष्ठ बना सकते हो। यह भी ग्याना वालों को चांस मिला है। आदि से ही सेवा के चांस की लाटरी मिली हुई है। सभी स्थान की वृद्धि अच्छी है। अभी और एक विशेषता करो – जो वहाँ के नामीग्रामी पण्डित हैं, उन्हों में से तैयार करो। ट्रिनीडाड, ग्याना में पण्डित बहुत हैं। वह फिर भी नजदीक वाले हो गये। भारत की ही फिलॉसाफी को मानने वाले हैं ना। तो अभी पण्डितों का ग्रुप तैयार करो। जैसे अभी हरिद्वार में साधुओं का संगठन तैयार हो रहा है, ऐसे फिर यहाँ से पण्डितों का ग्रुप तैयार करो। स्नेह से उनको अपना बना सकते हो। पहले स्नेह से उनको समीप लाओ। हरिद्वार में भी स्नेह की ही रिजल्ट है। स्नेह मधुबन तक पहुँचा देता है। तो मधुबन तक आये तो नॉलेज तक भी आ जायेंगे। कहाँ जायेंगे। तो अभी यह करके दिखाओ। अच्छा।

यूरोप क्या करेगा? संख्या से छोटे नहीं कहे जाते हैं। संख्या क्या भी हो, क्वालिटी अच्छी है तो नम्बरवन हो। जो किसी ने नहीं लाया है वह आप ला सकते हो। कोई बड़ी बात नहीं है “हिम्मते बच्चे मददे बाप”। बच्चों की हिम्मत और सारे परिवार की, बापदादा की मदद है इसलिए कोई भी बड़ी बात नहीं है। जो चाहो वह कर करते हो। आखिर तो सभी को आना तो एक ही ठिकाने पर है। किसको अभी आना है, किसको थोड़ा पीछे आना है। आना तो है ही। कितने भी खुश हों लेकिन फिर भी कोई न कोई प्राप्ति की इच्छा तो होती है ना। चाहे वातावरण ठीक है इसके लिए परेशान नहीं भी हैं लेकिन फिर भी जब तक ज्ञान नहीं है तो विनाशी इच्छायें कभी भी पूरी नहीं होती हैं। एक इच्छा के बाद दूसरी इच्छा उत्पन्न होती रहती है। तो इच्छा भी सदा सन्तुष्टता का अनुभव नहीं कराती। तो जो दु:खी नहीं हैं उनको ईश्वरीय नि:स्वार्थ स्नेह क्या है, स्नेही जीवन क्या होती है, आत्म स्नेह, परमात्म स्नेह का तो अनुभव ही नहीं। कितना भी स्नेह हो लेकिन नि:स्वार्थ स्नेह तो कहाँ है ही नहीं। सच्चा स्नेह तो है ही नहीं। तो सच्चा दिल का स्नेह परिवार का स्नेह सबको चाहिए। ऐसा परिवार कहाँ मिल सकता? तो जिस बात की अप्राप्ति की अनभूति हो, उसी प्राप्ति के आकर्षण से उन्हों को समझाओ। अच्छा!

सभी विशेष आत्मायें हो। अगर विशेषता न होती तो ब्राह्मण आत्मा नहीं बन सकते। विशेषता ने ही ब्राह्मण जीवन दिलाई है। सबसे बड़ी विशेषता तो यही है कि कोटों में कोई में कोई आप हो। तो हर एक की अपनी-अपनी विशेषता है। सारा दिन बाप और सेवा यही लगन रहती है ना! लौकिक कार्य तो निमित्त मात्र करना ही पड़ता है लेकिन दिल में लगन याद और सेवा की रहे। अच्छा!

वरदान:- सदा निज़धाम और निज़ स्वरूप की स्मृति से उपराम, न्यारे प्यारे भव
निराकारी दुनिया और निराकारी रूप की स्मृति ही सदा न्यारा और प्यारा बना देती है। हम हैं ही निराकारी दुनिया के निवासी, यहाँ सेवा अर्थ अवतरित हुए हैं। हम इस मृत्युलोक के नहीं लेकिन अवतार हैं सिर्फ यह छोटी सी बात याद रहे तो उपराम हो जायेंगे। जो अवतार न समझ गृहस्थी समझते हैं तो गृहस्थी की गाड़ी कीचड़ में फंसी रहती है, गृहस्थी है ही बोझ की स्थिति और अवतार बिल्कुल हल्का है। अवतार समझने से अपना निज़ी धाम, निज़ी स्वरूप याद रहेगा और उपराम हो जायेंगे।
स्लोगन:- ब्राह्मण वह है जो शुद्धि और विधिपूर्वक हर कार्य करे।

TODAY MURLI 30 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 29 August 2019:- Click Here

30/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the Father, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, and all your sorrow will be removed and your final thoughts will lead you to your destination.
Question: Why has the Father given you the direction to stay in remembrance whilst walking and moving around?
Answer: 1. It is only by having remembrance that your burden of sins of many births will be removed. 2. It is only by having remembrance that you souls will become satopradhan. 3. If you practise staying in remembrance from now on, you will be able to stay in remembrance of the one Father in your final moments. It is remembered of the end: Those who remember their wife in their final moments… 4. By your remembering the Father, the happiness of 21 births appears in front of you. There is no one in the whole world as sweet as the Father. This is why the Father’s direction is: Children, whilst walking and moving around, remember Me alone.

Om shanti. In remembrance of whom are you sitting? This relationship with the One who liberates everyone from sorrow is the loveliest relationship of all. When the Father looks at you children, all your sins continue to be cut away. The soul is moving towards the satopradhan stage. There is limitless sorrow. It is remembered: He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The Father has now truly come to liberate you from all sorrow. In heaven, there is no name or trace of sorrow. It is most essential to remember such a Father. A father has love for his children. You know which children the Father loves. It has been explained to you children: Consider yourselves to be souls, not bodies. Those who are very good jewels remember the Father whilst walking and moving around. Why does He say this? Because your urn of sin of many births is full. So, only by going on this pilgrimage of remembrance will you become charitable souls from sinful souls. You children also know that this is an old body. It is the soul that receives sorrow. When the body is hurt, the soul feels the pain. The soul says: I am diseased and unhappy. This is the world of sorrow. No matter where you go, there is nothing but sorrow. There cannot be sorrow in the land of happiness. When you mention sorrow, it means that you are in the land of sorrow. There isn’t even the slightest sorrow in the land of happiness. There is little time left and you have to make full effort to remember the Father during this time. The more remembrance you continue to have, the more satopradhan you will continue to become. You have to make effort and create such a stage that, at the end, you don’t remember anything except the one Father. There is a song: Those who remember their wife in the final moments… These are the final moments! It is the end of the old world, the land of sorrow. You are now making effort to go to the land of happiness. You have become Brahmins from shudras. You should remember this. Shudras have sorrow. We have moved away from sorrow and are now climbing to the peak. Therefore, we have to remember the one Father. He is the most beloved Father. What is sweeter than Him? The soul only remembers that Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Father of all souls. There is nothing in this world sweeter than Him. There are so many children. In how much time would He remember them all? In a second. Achcha, how does the cycle of the whole world turn? The accurate meaning of this is in the intellects of you children. For instance, when people return from seeing a drama (play), and someone asks them whether they remember all the drama or not, as soon as they say, “Yes”, the whole drama would enter their intellects from the beginning to the end. However, it would take time for them to speak about it. Baba is the unlimited Baba. By your remembering Him, the happiness of 21 births appears in front of you. You receive this inheritance from the Father. The Father’s inheritance appears in front of you children in a second. As soon as a child is born, his father knows that an heir has taken birth. He would remember all his property. Each one of you is an individual child and you receive your individual inheritance. You have individual remembrance; each of you is an heir of the unlimited Father. In the golden age, there will just be one son. He is the heir of all the property. As soon as you children found the Father, you became the masters of the world in a second. It doesn’t take long. The Father says: Consider yourselves to be souls. Do not consider yourself to be female. A soul is a male. Baba says: I remember all the children. All souls are brothers. Those of other religions who come all say: Those of all religions are brothers. However, they do not understand this. You now understand that you are the most beloved children of Baba. You will definitely receive your full unlimited inheritance from the Father. How will you claim it? You children remember that in a second. We were satopradhan and then we became tamopradhan. We now have to become satopradhan once again. You know that you have to claim your inheritance of the happiness of heaven from Baba. The Father says: Consider yourselves to be souls. The bodies are perishable. It is the soul that sheds his body and departs. He goes and enters a womb in a new body. When the fetus is ready, the soul enters it. However, that is under the influence of Ravan. The soul enters the jail under the influence of vices. There, there is no Ravan. There is no question of sorrow. When you become old, you become aware that you will shed that body and enter another body. There is no question of fear there. Here, there is so much fear. There, you remain fearless. The Father takes you children into limitless happiness. There is limitless happiness in the golden age and limitless sorrow in the iron age. That is why this is called the land of sorrow. The Father doesn’t cause you any difficulty. Although you may live at home with your family and look after your children, you simply have to remember the Father. Renounce all the gurus and saints. I am greater than all the gurus. All of them are My creation. No one, apart from Me, can be called the Purifier. Would you call Brahma, Vishnu or Shankar the Purifier? No, even those deities cannot be called that. No one except Me can be called that. Would you children call the Ganges the Purifier? Those rivers of water flow constantly. The rivers Ganges and Brahmaputra etc. have always existed. People are always bathing in those. When there is rain, there are floods and that too is sorrow. There is limitless sorrow! Look how many people died in the floods. In the golden age, there is no question of sorrow. Even animals don’t have sorrow there, nor do they have untimely death. This drama is created in this way. On the path of devotion, they sing: Baba, when You come I will belong to You alone. He does come. He comes between the end of the land of sorrow and the beginning of the land of happiness. However, no one knows this. No one knows what the duration of the world is. The Father tells you everything easily. Did you know previously that the duration of the world is 5000 years? Those people say that it is hundreds of thousands of years, but the Father has now explained to you that every age is 1250 years. In the swastika, they show the four equal parts accurately. There isn’t the slightest difference between them. Reasoning also says that there has to be an accurate account. At Jagannath Puri, when they cook rice in a special type of pot, it automatically divides into four equal parts. They have created a method for doing that. People there eat a lot of rice. Whether you call it Jagannath or Shrinath, it is the same thing. They show both of them as ugly. In the Shrinath Temple, they have urns of ghee and you receive very good nourishing food fried in ghee. They have shops outside to sell all of that. They offer such a great quantity of bhog there. All the pilgrims go and buy that from the shops. At Jagannath, they only have rice. One is Jagannath and the other is Shrinath. They show the land of happiness and the land of sorrow. Shrinath belonged to the land of happiness and the other to the land of sorrow. It is at this time that people have become ugly by climbing onto the pyre of lust. They simply offer rice as bhog to Jagannath. They show that one to be poor and the other one to be wealthy. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. Devotion is called ignorance and you don’t receive anything from that. There, the gurus have a lot of income. If someone is clever and others learn something from him, those others would say: This one is my guru and he taught me this. All of those are physical, those who take birth. Who is with you now? The Father without an image. He says: This is not My body. This is the body of your Dada who has taken the full 84 births. I enter Him at the end of the last of his many births in order to take you to the land of happiness. He is also called Gaumukh. People come from so far away to see a Gaumukh. There is a Gaumukh here too. Water definitely comes from the mountains. Water enters the well from the mountains every day. It never stops. The water continues to come. When streams come from anywhere, they call that the water of the Ganges. They go there to bathe, considering it to be water of the Ganges. However, no one can become pure from impure with that water. The Father says: I am the Purifier. O souls, constantly remember Me alone! Renounce your bodies and all your bodily relations, consider yourselves to be souls and remember Me and your sins of many births will be burnt away. The Father liberates you from the sins of many births. At this time, everyone in the world continues to commit sin. There is the suffering of karma. You have all committed sin in your previous births. There is the account of 63 births. Your degrees continue to decrease little by little, just as the degrees of the moon do. This is the unlimited day and night. The whole world, and Bharat in particular, now has the omens of Rahu over it. There is the eclipse of Rahu. You children are now becoming beautiful from ugly. This is why even Krishna is called Shyam-Sundar. They have truly portrayed him as ugly. They have shown this symbol because he climbed onto the pyre of lust. However, people’s intellects do not work at all! They sometimes show him as beautiful and sometimes ugly (dark blue). You are now making effort to become beautiful. Only when you make effort to become satopradhan will you become that. There is no question of difficulty in this. You are listening to this knowledge now and it will then disappear. Although people study and relate the Gita, they cannot relate this knowledge. That is a religious book for the path of devotion. There is a lot of paraphernalia for the path of devotion and there are many scriptures; some read things and others do something else. People go to the temple of Rama and they have even shown Rama as ugly. Just think about why they show them as ugly. There is also Kali of Calcutta. They call out to her, “Ma, Ma,” and experience distress. She is a most feared one and they show a very fearsome form of her. They call her “Mother”. You have this arrow and sword of knowledge, and so they have shown her with weapons. In fact, previously, they used to sacrifice people to Kali. The Government put a stop to that. Previously, they didn’t have a temple to that goddess in Sindh. When a bomb exploded, a brahmin priest said: Kali has said that there isn’t a temple to her here, and that one should be built quickly, otherwise, another bomb would explode. They then collected a lot of money and a temple was built. Look, there are now so many temples! People wander to so many places. The Father explains to you in order to liberate you from all of those things. He does not defame anyone. The Father explains the drama to you and how this world cycle is created. Whatever you have seen will exist again. The things that do not exist now will be created. You have now understood that there used to be your kingdom. You have now lost that. Once again, the Father now says: Children, if you want to change from an ordinary human into Narayan, then make effort! You have been listening to many religious stories on the path of devotion. You listened to the story of immortality, but did anyone become immortal? Did anyone receive the third eye of knowledge? The Father sits here and explains these things. Do not look at anything evil with those eyes. Look at everything with civil eyes, not with criminal eyes. Do not look at this old world; it is to be destroyed. The Father says: Sweetest children, I am going to leave after giving you the kingdom for 21 births. There isn’t anyone else’s kingdom there. There is no mention of sorrow there. You remain very happy and wealthy there. Here, people starve to death. There, you rule over the whole world. You need so little land. At first, it is a small garden and it then gradually grows and by the end of the iron age, it becomes so big and, because of the influence of the five vices, it becomes a forest of thorns. The Father says: Lust is the greatest enemy. You receive sorrow from its beginning through the middle to the end. You now understand knowledge and devotion. Destruction is just ahead of you. Therefore, now make effort quickly. Otherwise, your sins will not be burnt away. Your sins can only be cut away by having remembrance of the Father. Only the one Father is the Purifier. Those who made effort in the previous cycle will definitely do that again. Do not become slack! Do not remember anyone except the one Father! Everyone else causes you sorrow. Remember the One who gives you constant happiness. Do not be careless about this! If you don’t remember Him, how would you become pure? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not look at anything evil with your eyes. Look at everything with the third eye of knowledge, the civil eye, that the Father has given you. Make full effort to become satopradhan.
  2. Whilst taking care of your home and family, remember the Father, the loveliest of all. Create such a stage that, at the end, you do not remember anything except the one Father.
Blessing: May you serve yourself and become complete and perfect by paying attention and checking yourself.
“Service of the self” means constantly to pay attention to making yourself complete and perfect. You have to pass with honours in the main subjectsof the study. Become an embodiment of knowledge, an embodiment of remembrance and an embodiment of dharna. Let this service of yourself always remain in your intellect for this service to attain your perfect form will automatically serve others. However, the way to do this is to pay attention and to check yourself. Check yourself, not others.
Slogan: By speaking too much, you lose your mental energy. Therefore, be short and sweet with your words.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 August 2019

To Read Murli 29 August 2019:- Click Here
30-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाप को याद करो तो तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे, अन्त मति सो गति हो जायेगी”
प्रश्नः- बाप ने तुम बच्चों को चलते-फिरते याद में रहने का डायरेक्शन क्यों दिया है?
उत्तर:- 1. क्योंकि याद से ही जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझ उतरेगा, 2. याद से ही आत्मा सतोप्रधान बनेगी, 3. अभी से याद में रहने का अभ्यास होगा तो अन्त समय में एक बाप की याद में रह सकेंगे। अन्त के लिए ही गायन है – अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…. 4. बाप को याद करने से 21 जन्मों का सुख सामने आ जाता है। बाप जैसी मीठी चीज़ दुनिया में कोई नहीं, इसलिए बाप का डायरेक्शन है – बच्चे, चलते-फिरते मुझे ही याद करो।

ओम् शान्ति। किसकी याद में बैठे हो? यह है प्यारे ते प्यारा सम्बन्ध एक के साथ, जो सबको दु:खों से छुड़ाने वाला है। बाप बच्चों को देखते हैं तो सब पाप कटते जाते हैं। आत्मा सतोप्रधान तरफ जा रही है। दु:ख तो अथाह है ना। गाते भी हैं – दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। अब बाप तुमको सच-सच सब दु:खों से छुड़ाने आये हैं। स्वर्ग में दु:ख का नाम-निशान नहीं होता। ऐसे बाप को याद करना बहुत जरूरी है। बाप का बच्चों के प्रति प्यार होता है ना, यह तो तुम जानते हो बाप का किन-किन बच्चों पर प्यार है। बच्चों को समझाया है, अपने को आत्मा समझो, देह नहीं समझो। जो अच्छे रत्न हैं वह बाप को चलते-फिरते याद करते हैं, यह भी क्यों कहते हैं? क्योंकि तुम्हारा जन्म-जन्मान्तर से पापों का घड़ा भरा पड़ा है। तो इस याद की यात्रा से ही तुम पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बन जायेंगे। यह भी तुम बच्चे जानते हो कि यह पुराना तन है। दु:ख आत्मा को ही मिलता है। शरीर को चोट लगने से आत्मा को दु:ख फील होता है। आत्मा कहती है मैं रोगी, दु:खी हूँ। यह है दु:ख की दुनिया। कहाँ भी जाओ दु:ख ही दु:ख है। सुखधाम में तो दु:ख हो न सकें। दु:ख का नाम लिया तो गोया तुम दु:खधाम में हो। सुखधाम में तो ज़रा भी दु:ख नहीं। समय भी बाकी थोड़ा है, इसमें पूरा पुरूषार्थ करना है बाप को याद करने का। जितना याद करते रहेंगे उतना सतोप्रधान बनते जायेंगे। पुरूषार्थ करके अवस्था ऐसी जमानी है जो तुमको पिछाड़ी में सिवाए एक बाप के कुछ याद न आये। एक गीत भी है – अन्तकाल जो स्त्री सिमरे……. यह अन्तकाल है ना। पुरानी दुनिया दु:खधाम का अन्त है। अभी तुम सुखधाम चलने का पुरूषार्थ करते हो। तुम शूद्र से ब्राह्मण बने हो। यह तो याद रहना चाहिए ना। शूद्र को है दु:ख, हम दु:ख से निकल फिर अब चोटी पर चढ़ रहे हैं तो एक बाप को याद करना है। मोस्ट बिलवेड बाप है। उनसे मीठी चीज़ कौन-सी होती है? आत्मा उस परमपिता परमात्मा को ही याद करती है ना। सब आत्माओं का बाप है, उनसे मीठी इस दुनिया में कोई चीज़ हो न सके। इतने सब ढेर बच्चे हैं, कितने में याद आते होंगे? सेकण्ड में। अच्छा, सारे सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है? वह भी तुम बच्चों की बुद्धि में अर्थ सहित है। जैसे कोई ड्रामा देखकर आते हैं। कोई पूछेंगे ड्रामा याद है? हाँ कहने से ही सारा बुद्धि में आ जाता है, शुरू से लेकर अन्त तक। बाकी वह वर्णन करके सुनाने में तो समय लगेगा। बाबा बेहद का बाबा है, उसको याद करने से ही 21 जन्मों का सुख सामने आ जाता है। बाप से यह वर्सा मिलता है। सेकण्ड में बच्चों को बाप का वर्सा सामने आ जाता है। बच्चा पैदा हुआ, बाप जान जाते हैं वारिस ने जन्म लिया। सारी मिलकियत याद आ जायेगी। तुम भी अकेले अलग-अलग बच्चे हो, अलग-अलग वर्सा मिलता है ना। अलग-अलग याद करते हो। हम बेहद बाप के वारिस हैं। सतयुग में तो एक ही बच्चा होता है। वह सारी मिलकियत का वारिस ठहरा। बच्चों को बाप मिला और विश्व का मालिक बना, सेकेण्ड में। देरी नहीं लगती। बाप कहते हैं तुम अपने को आत्मा समझो। फीमेल मत समझो। आत्मा तो बच्चा है ना। बाबा कहते हैं हमें सब बच्चे याद पड़ते हैं। आत्मायें सब भाई-भाई हैं। जो भी सब धर्म वाले आते हैं, वह कहते सब धर्म वाले भाई-भाई हैं। परन्तु समझते नहीं। अभी तुम समझते हो कि हम बाबा के मोस्ट बिलवेड बच्चे हैं। बाप से पूरा बेहद का वर्सा जरूर मिलेगा। कैसे लेंगे? वह भी तुम बच्चों को सेकण्ड में याद आ जाता है। हम सतोप्रधान थे फिर तमोप्रधान बनें, अब फिर सतोप्रधान बनना है। तुम जानते हो बाबा से हमको स्वर्ग के सुखों का वर्सा लेना है।

बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। देह तो विनाशी है। आत्मा ही शरीर छोड़कर चली जाती है। फिर जाकर दूसरा नया शरीर गर्भ में लेती है। पुतला जब तैयार होता है तब आत्मा उसमें प्रवेश करती है। परन्तु वह तो है रावण के वश। विकारों के वश जेल में जाते हैं। वहाँ तो रावण होता ही नहीं, दु:ख की बात ही नहीं। जब बूढ़े होते हैं तब मालूम पड़ता है – अभी यह शरीर छोड़ हम दूसरे शरीर में जाकर प्रवेश करेंगे। वहाँ तो डर की कोई बात नहीं रहती है। यहाँ तो कितना डरते हैं। वहाँ निडर होते हैं। बाप तुम बच्चों को अपार सुखों में ले जाते हैं। सतयुग में अपार सुख हैं, कलियुग में अपार दु:ख हैं इसलिए इसे कहते ही हैं दु:खधाम। बाप तो कोई तकल़ीफ नहीं देते हैं। भल गृहस्थ व्यवहार में रहो, बच्चों को सम्भालो, सिर्फ बाप को याद करो। गुरू गोसाई सबको छोड़ो। मैं तो सब गुरूओं से बड़ा हूँ ना। वह सब मेरी रचना हैं। सिवाए मेरे और कोई को पतित-पावन नहीं कहेंगे। क्या ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को पतित-पावन कहेंगे? नहीं। देवताओं को भी नहीं कह सकते सिवाए मेरे। अभी तुम बच्चे गंगा को पतित-पावनी कहेंगे? यह पानी की नदियाँ तो सदैव बहती हैं। गंगा, ब्रह्मपुत्रा आदि भी तो चली आती हैं। इनमें तो स्नान करते ही रहते हैं। बरसात पड़ती तो फ्लड आ जाती है। यह भी दु:ख हुआ ना। अथाह दु:ख हैं, बाढ़ में देखो कितने मनुष्य मर गये। सतयुग में दु:ख की बात नहीं, जानवरों को भी दु:ख नहीं होता है, उनकी भी अकाले मृत्यु नहीं होती। यह ड्रामा ही ऐसे बना हुआ है। भक्ति में गाते हैं – बाबा, आप जब आयेंगे तो हम आपके ही बनेंगे। आते तो हैं ना। दु:खधाम के अन्त और सुखधाम के आदि के बीच में ही आयेंगे, परन्तु यह किसको पता नहीं। सृष्टि की आयु कितनी होती है, यह भी नहीं जानते। बाप कितना सहज बतलाते हैं। आगे तुम जानते थे क्या कि सृष्टि चक्र की आयु 5 हज़ार वर्ष है? वह तो लाखों वर्ष कह देते हैं। अभी बाप ने समझाया है 1250 वर्ष का हर युग होता है। स्वास्तिका में पूरे 4 भाग होते दिखाते हैं। ज़रा भी फ़र्क नहीं होता। विवेक भी कहता है एक्यूरेट हिसाब होना चाहिए। पुरी में भी चावल का हाण्डा चढ़ाते हैं, तो पूरे 4 हिस्से आपेही हो जाते हैं – ऐसी युक्ति बनाई हुई है। वहाँ चावल बहुत खाते हैं। जगन्नाथ कहो वा श्रीनाथ कहो बात एक ही है। दोनों ही काले दिखाते हैं। श्रीनाथ के मन्दिर में घी के भण्डार होते हैं। सब घी की तली हुई अच्छी-अच्छी चीज़ें मिलती हैं। बाहर में दुकान लग जाते हैं। कितना भोग लगता होगा। सब यात्री जाकर दुकानदारों से लेते हैं। जगन्नाथ में फिर चावल ही चावल होते हैं। वह जगत नाथ, वह श्रीनाथ। सुखधाम और दु:खधाम को दिखाते हैं। श्रीनाथ सुखधाम का था, वह दु:खधाम का। काले तो इस समय बन गये हैं – काम चिता पर चढ़कर। जगन्नाथ को सिर्फ चावल का भोग लगाते हैं। इनको गरीब, उनको साहूकार दिखाते हैं। ज्ञान का सागर एक बाप ही है। भक्ति को कहा जाता है अज्ञान, उनसे कुछ मिलता नहीं। वहाँ सिर्फ गुरू लोगों की आमदनी बहुत होती, होशियार होगा, उनसे कोई सीखेगा तो वह कहेंगे यह हमारा गुरू है। उसने हमको यह सिखाया है। वह सब जिस्मानी हैं, जन्म लेने वाले।

अभी तुम्हारे साथ कौन है? विचित्र बाप। वह कहते हैं यह मेरा शरीर नहीं है। यह तुम्हारे इस दादा का शरीर है, जिसने पूरे 84 जन्म लिए हैं, इनके बहुत जन्मों के अन्त में मैं इसमें प्रवेश होता हूँ, तुमको सुखधाम ले जाने, इसको गऊमुख भी कह देते हैं। गऊमुख पर कितना दूर-दूर से आते हैं। यहाँ भी गऊ मुख है। पहाड़ से पानी तो जरूर आयेगा। कुएं में भी रोज़-रोज़ पानी पहाड़ से आता है, वह कभी बन्द नहीं होता। पानी आता ही रहता है। कहाँ से भी नाला निकला तो उनको गंगा जल कह देंगे। वहाँ जाकर स्नान करते हैं। गंगा जल समझते हैं लेकिन पतित से पावन इस पानी से थोड़ेही बनेंगे। बाप कहते हैं पतित-पावन मैं हूँ, हे आत्मायें मामेकम् याद करो। देह सहित देह के सभी सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझकर मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म हो जायें। बाप तुमको जन्म-जन्मान्तर के पापों से छुड़ाते हैं। इस समय तो दुनिया में सभी पाप करते रहते हैं, कर्मभोग है ना। अगले जन्म में पाप किया है, 63 जन्म का हिसाब-किताब है। थोड़ी-थोड़ी कला कम होती जाती है। जैसे चन्द्रमा की कलायें कम होती हैं ना। यह फिर है बेहद का दिन-रात। अभी सारी दुनिया पर, उसमें भी खास भारत पर राहू की दशा बैठी हुई है। राहू का ग्रहण लगा हुआ है। अभी तुम बच्चे श्याम से सुन्दर बन रहे हो इसलिए कृष्ण को भी श्याम-सुन्दर कहते हैं। सचमुच काला बना देते हैं। काम चिता पर चढ़े हैं तो निशानी दिखा दी है। परन्तु मनुष्यों की कुछ बुद्धि चलती नहीं। एक सांवरा, दूसरा गोरा कर देते हैं। अभी तुम गोरा बनने का पुरूषार्थ कर रहे हो। सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करेंगे तब तो बनेंगे ना, इसमें तकल़ीफ की बात नहीं। यह ज्ञान अभी तुम सुनते हो फिर प्राय:लोप हो जाता है। भल गीता पढ़कर सुनायेंगे परन्तु यह ज्ञान तो सुना न सकें। वह हुआ भक्ति मार्ग के लिए पुस्तक। भक्ति मार्ग के लिए ढेर सामग्री है, ढेर शास्त्र हैं, कोई क्या पढ़ते, कोई क्या करते। राम के मन्दिर में भी जाते हैं, राम को भी काला कर दिया है। विचार करना चाहिए कि काला क्यों बनाते हैं? काली कलकत्ते वाली भी है, माँ-माँ कह हैरान होते हैं, सबसे काली वह है और बहुत भयानक दिखाते हैं। उनको फिर माता कहते हैं। तुम्हारे यह ज्ञान बाण, ज्ञान कटारी आदि हैं। तो उन्हों ने फिर हथियार दे दिये हैं। वास्तव में काली पर पहले मनुष्यों की बलि चढ़ाते थे। अभी गवर्मेन्ट ने बन्द कर दिया है। आगे सिंध में देवी का मन्दिर नहीं था। जब बाम फटा तो एक ब्राह्मण बोला काली ने हमें आवाज़ दिया है – हमारा मन्दिर है नहीं, जल्दी बनाओ, नहीं तो और भी बम फटेंगे। बस, ढेर पैसे इकटठे हो गये, मन्दिर बन गया। अभी देखो ढेर मन्दिर हैं। कितनी जगह भटकते हैं। बाप तुमको इन सब बातों से छुड़ाने के लिए समझाते हैं, किसकी ग्लानि नहीं करते हैं। बाप ड्रामा समझाते हैं। यह सृष्टि चक्र कैसे बना हुआ है। जो कुछ तुमने देखा वह फिर होगा। जो चीज़ नहीं है वह बनती है। तुम समझ गये हो हमारा राज्य था, वह हमने गंवाया है। अब फिर बाप कहते हैं – बच्चे, नर से नारायण बनना है तो पुरूषार्थ करो। भक्ति मार्ग में तुम बहुत कथायें सुनते आये हो। अमरकथा सुनी फिर कोई अमर बनें? किसको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला? यह बाप बैठकर समझाते हैं। इन आंखों से कुछ भी ईविल न देखो। सिविल आंखों से देखो, क्रिमिनल से नहीं। इस पुरानी दुनिया को न देखो। यह तो खलास हो जानी है। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, हम तुमको राज्य देकर जाते हैं 21 जन्म के लिए। वहाँ और कोई का राज्य होता नहीं। दु:ख का नाम नहीं, तुम बड़े सुखी और धनवान होते हो। यहाँ तो मनुष्य कितना भूख मरते रहते हैं। वहाँ तो सारे विश्व में तुम राज्य करते हो। कितनी थोड़ी जमीन चाहिए। छोटा बगीचा फिर वृद्धि होते-होते कलियुग अन्त तक कितना बड़ा हो जाता है और 5 विकारों की प्रवेशता के कारण वह कांटों का जंगल बन जाता है। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है इनसे तुम आदि, मध्य, अन्त दु:ख पाते हो। ज्ञान और भक्ति को भी अब तुमने समझा है। विनाश सामने खड़ा है, इसलिए अब जल्दी-जल्दी पुरूषार्थ करना है। नहीं तो पाप भस्म नहीं होंगे। बाप की याद से ही पाप कटेंगे। पतित-पावन एक बाप ही है। कल्प पहले जिन्होंने पुरूषार्थ किया है वह करके ही दिखायेंगे। ठण्डे मत बनो। सिवाए एक बाप के और कोई को याद न करो। सब दु:ख देने वाले हैं। जो सदा सुख देने वाला है, उनको याद रखो, इसमें ग़फलत नही करनी है। याद नहीं करेंगे तो पावन कैसे बनेंगे? अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इन आंखों से ईविल (बुरा) नहीं देखना है। बाप ने जो ज्ञान का तीसरा नेत्र दिया है, उस सिविल नेत्र से ही देखना है। सतोप्रधान बनने का पूरा पुरूषार्थ करना है।

2) गृहस्थ व्यवहार को सम्भालते हुए प्यारी चीज़ बाप को याद करना है। अवस्था ऐसी जमानी है जो अन्तकाल में एक बाप के सिवाए दूसरा कुछ भी याद न आये।

वरदान:- अटेन्शन और चेकिंग द्वारा स्व सेवा करने वाले सम्पन्न और सम्पूर्ण भव
स्व की सेवा अर्थात् स्व के ऊपर सम्पन्न और सम्पूर्ण बनने का सदा अटेन्शन रखना। पढ़ाई की मुख्य सब्जेक्ट में अपने को पास विद आनर बनाना। ज्ञान स्वरूप, याद स्वरूप और धारणा स्वरूप बनना – यह स्व सेवा सदा बुद्धि में रहे तो यह सेवा स्वत: आपके सम्पन्न स्वरूप द्वारा अनेको की सेवा कराती रहेगी लेकिन इसकी विधि है – अटेन्शन और चेकिंग। स्व की चेकिंग करना – दूसरों की नहीं।
स्लोगन:- ज्यादा बोलने से दिमाग की एनर्जी कम हो जाती है इसलिए शार्ट और स्वीट बोलो।

TODAY MURLI 30 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 August 2018 :- Click Here

30/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, pay attention to the philosophy of action, neutral action and sinful action and don’t perform any sinful actions with your physical sense organs. Make a donation and the bad omens of the eclipse will be removed.
Question: By following Father Brahma in which aspect do you children become seated on the throne in the future?
Answer: Father Brahma surrendered everything he had including his body and gave everything to serve the children in the name of God. He insured himself directly and thereby received the kingdom of the world. F ollow the father in the same way. You have to claim the certificate of being worthy. Become real children and serve with your bodies, minds and wealth. Become the Father’s true helpers. By insuring everything, you can claim a right to a kingdom for 21 births.
Song: Do not forget the days of your childhood .

Om shanti. You sweetest children heard the song. You children have now died alive and taken the lap of the Father in order to go from this world to that world. Which Father is He? “The Supreme Father, the Supreme Soul”, means God. Whenever you explain, you mustn’t say that Baba is a Jyotilingam, or that He is the form of light, brighter than a thousand suns. To say this is, in fact, wrong. What should you say? God, that is, the Supreme Father, the Supreme Soul, always resides in the supreme abode. The Supreme means the Highest on High, the i ncorporeal Father. He is the Father of all souls and this is why He is called the Supreme. He doesn’t enter the cycle of birth and death. He explains: Children, if I too entered the cycle of birth and death, who would uplift everyone? I alone come and take everyone beyond sorrow. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, but no one knows this. On the path of devotion, people continue to sing: O Supreme Father, Supreme Soul! They definitely consider Him to be the Father, but they don’t know what their Father is like or what He is. He doesn’t have the form of a human being. People also remember Brahma, Vishnu and Shankar. They can be seen with these eyes, but who is Shiva? People go to a Shiva Temple, but they don’t know why they remember Him. The Father sits here and explains: When the deities go on to the path of sin, they build the temple to Somnath. The only thing they understand is that He is Shiv Baba, but they don’t know that He is the Creator of heaven or that He is the One who makes us into the masters of heaven. If they knew this, they would tell others the biography of Shiv Baba. It is fixed in the drama for them not to know. To know means to receive the inheritance. Not to know means to lose the inheritance. The Father says: I, the Creator of heaven, give you happiness and make you pure. Then the five vices make you impure and the degrees continue to decrease. You then become ugly. At first, you were a 16 celestial degrees full moon; you were pure, but you are now eclipsed. Baba says: Make a donation and the bad omens of the eclipse will be removed. The five vices are said to be the eclipse of bad omens through which you souls become unhappy and ugly. The Father says: I am the Father of you Brahmins. O Brahmins, donate to Me the five vices that you have and the eclipse of the bad omens will be removed. After donating them today, don’t do anything with them. Many storms of Maya will come, but if you become angry, you would be committing sin through your physical organs. I explain the philosophy of action, neutral action and sinful action. Your actions should not become sinful. I am making you children into conquerors of sinful actions. Those are the omens of Rahu. When you make a donation, the eclipse of the omens will be removed. The Father says: My sweet children, donate those five evil spirits. There is no question of any money etc. in this. He is the Father and you are real children. The Father surely has to help the real children. You serve with your bodies, minds and wealth. The Father’s duty is to serve you. The Father says: All of this belongs to you children. You have been giving to God on the path of devotion. However, God is not greedy. You are insuring yourselves. By your giving to God, God will then give to you in your next birth. This is insuring, is it not? You receive the fruit of it in your next birth. God is the Bestower. You are now insuring yourselves for 21 births. Those people insure themselves for one birth. Here, everything is insured for 21 births. It is said: Son shows the Father. Look, whatever the father (Brahma Baba) had, he used it in the name of God to serve the children. He made Shiv Baba his Heir. He gave his body, mind and wealth and because he did everything directly, he received the sovereignty of the world in return through his own efforts. By belonging to Me, you become the masters of heaven for 21 births, but you will receive the inheritance to the extent that you surrender yourselves. You have to surrender everything including your body. Those who follow the mother and father will sit on the throne. The Father says: Make a donation and the eclipse of the omens will be removed. If you take something back after you have donated it, you will become degraded. You have to make full effort. Effort-making students who study well claim a number. You too can make effort and claim a high number. There is no question of any difficulty in this. You simply have to remain pure. You receive power from Baba for this and the mercury of happiness also rises. We want to become deities and so we mustn’t have any defects in us. You have to become 16 celestial degrees full and fully viceless here and so you mustn’t have any defects. You have been vicious for half the cycle and so Maya says: You are now trying to become viceless and so I will once again make you vicious. This is the war with Maya that continues. This is the difficulty. You have to conquer Maya. Those people have then shown a violent war and falsified everything. You become the masters of the world by conquering Maya. You children understand that if you don’t donate the five vices to the Father, you won’t be able to marry Shri Lakshmi or Narayan. Therefore, you children should look into the mirror of your heart: Did I do anything wrong through my physical sense organs? The storms of Maya that come will be stronger than they were previously. When herbalists give medicine, they warn you that all the old illnesses will erupt before you get better. You mustn’t be afraid of this. These will come. That One is also the Surgeon. He says: When you become My children, you will have a big war with Ravan. Maya will attack you a great deal. Therefore, you mustn’t be afraid of storms. You belong to the Father and so don’t forget this childhood: this is your Godly childhood. You come into God’s lap once and then into the lap of deities for 21 births. After your Godly birth you go to heaven. You each have to claim the certificate. Baba, am I a worthy child or an unworthy child of yours? Baba can tell you which number worthy child you are. Baba can tell you what is still lacking in you. You yourselves can understand: If I am not doing service, how can I claim such a high status? Achcha, Baba tells you what to do: Open a hospital-cum-college. You may not go there, but when many people receive a cure there, you will receive the reward of that. Human beings build dharamshalas so that many people can rest there, and so they would receive a very good palace in their next birth. Many children come to Baba and say: Open this hospital and we will help you. Open a big hospital. If you don’t have time to take this knowledge, then just take three feet of land and open this hospital-cum-college. Through the hospital you will become ever healthyand through the college you will become ever wealthy. When many people become this, you will accumulate the charity of that. There is not a lot of expense in this. People nowadays earn so much money. They have properties worth millions. Will their sons and grandsons etc. eat from that? They won’t even get the dust. Everything is to be destroyed. The poor ones receive a kingdom. Baba is the Lord of the Poor. This Baba was a number one ordinary person. Someone who just has one or two thousand would be called a poor person. Here, even the poor can claim a high status. What would you do with a hundred thousand or a million of someone’s? Establishment is carried out with every penny of the poor. Gandhiji used to receive so many donations, and yet so many people died in that. They endured so much difficulty. You don’t have any difficulty. The Father says: First of all, study Raja Yoga and the kingdom will be given to you. This kingdom here is like a mirage. There is the story of Draupadi inviting Duryodhan to her palace and when he came, he saw a lake and began to take off his clothes. So, Draupadi told him: Blind child of the blind, that is just a mirage. They all think that they have received their independence, but there is so much sorrow. People are so unhappy. Death is standing just ahead. The Father says: All are already dead. This is a graveyard and you have to make it into the land of angels. You will build palaces studded with diamonds and pearls. Here, it is the land of stones, whereas there, it will be the land of gold. Therefore, the Father explains: When you make a donation, the eclipse of the omens will be removed and you will then become 16 celestial degrees full. You are now impure. Human beings are so unhappy. When war takes place, people lose their sleep; they are unable to sleep. They sleep by taking sleeping tablets. This is the kingdom of Ravan. They will now burn Ravan on Dashera. They will continue to burn it till the end, until destruction takes place. After destruction, Ravan’s image will not be burnt. Then, in the copper age, they will again create Ravan in order to burn him. They burn Ravan every year, but he just doesn’t die. You celebrate Raksha Bandhan and have a rakhi tied every year and yet you also become impure again. Lakshmi and Narayan had so much wealth. They are worshipped so much. They don’t worship Lakshmi alone; they worship the four-armed image. Both are included in that. Together with Lakshmi, Narayan is also needed; they worship both of them. How could anything function without a couple? This is the family path. You become the masters of the world. Children say that other people tell them: If you don’t worship Lakshmi at Diwali, wealth will not come to you. Therefore, Baba advises you: Children, just play your parts as detached observers. Otherwise, there will be conflict. Baba says: If you have to get your daughter married, simply play your part as a detached observer. Otherwise, there will be a quarrel. If the daughter doesn’t want to remain viceless, then, in those desperate circumstances, get her married. If she doesn’t want to remain pure, then just let her go; don’t harass her. A kumari is one who uplifts 21 generations. All of you are Brahma Kumaris and your business is to make everyone into a master of heaven. Ask your heart: How many do I make the same as myself? This is a mission. Here, you change human beings into deities and so you have to make a lot of effort. You are God’s helpers. I liberate you from sorrow and make you into the masters of heaven. I am altruistic. I give you the kingdom and go into retirement. I have no desire to rule a kingdom. I give you the kingdom. You can take your fortune of the kingdom once again. You know that you were deities. You went through 84 births and today you are part of Ravan’s community. People always burn an effigy of Ravan. They never worship Ravan. Those who give happiness are worshipped. They make an image of Ravan and then burn it; he always causes sorrow. How can you praise someone who causes you sorrow? Shiv Baba is the Bestower of Happiness. People go and offer flowers to Him every day, but they don’t know His occupation. Nowadays, there is a lot of blind faith. Baba says: You mustn’t forget the Father who gives you the happiness of heaven. Otherwise, you won’t be able to receive the abundant happiness of heaven. Since you say “Mama, Baba” you will go to heaven, but you will become maids and servants. You children have understood the meaning of the song. After belonging to God, don’t forget this childhood. You have changed from devilish children into Godly children and you are to become deity children. This is your Godly birth. At this time you are servers. You are spiritual social workers. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. After taking a Godly birth don’t perform any wrong actions. Become a worthy child. Remove the defects and imbibe divine virtues.
  2. Become Godly helpers and make others equal to yourselves by doing spiritual service. Take three feet of land and open a spiritual hospital-cum-college. Become a full helper with your body, mind and wealth.
Blessing: May you be free from bondage and celebrate the completion ceremony by finishing your old karmic accounts.
When all you souls in this foreign world are bound in bondage, the Father comes and makes you free from bondage by reminding you of your original form and original land. He makes you into masters of the self, self-sovereigns, and then takes you to your original land. So, in order to go back to your original land, celebrate the completion ceremony of finishing all karmic accounts. When you celebrate this ceremony now you will then be able to celebrate the perfection ceremony at the end. Only those who have been free from bondage over a long period of time are able to attain the status of liberation in life over a long period of time.
Slogan: To make weak souls powerful with the co-operation of your zeal and enthusiasm and sweet words is to have pure and positive thoughts for others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 August 2018

To Read Murli 29 August 2018 :- Click Here
30-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कर्म, अकर्म, विकर्म की गति को ध्यान में रखते हुए इन कर्मेन्द्रियों से कोई भी पाप कर्म नहीं करना, दे दान तो छूटे ग्रहण”
प्रश्नः- किस बात में ब्रह्मा बाप को फालो करने वाले बच्चे भविष्य में तख्तनशीन बनते हैं?
उत्तर:- जैसे ब्रह्मा बाप देह सहित पूरा बलि चढ़े, अपना सब कुछ ईश्वर अर्थ बच्चों की सेवा में लगा दिया, डायरेक्ट इनश्योर किया इसलिए विश्व की राजाई मिली, ऐसे ही फालो फादर। सपूत बनने का सर्टीफिकेट लेना है। सगे बन तन-मन-धन से सेवा करनी है। बाप का पूरा मददगार बनना है। सब कुछ इनश्योर कर 21 जन्मों की राजाई का हकदार बन सकते हो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना। अब बच्चों ने जीते जी इस दुनिया से मरकर उस दुनिया में जाने के लिए बाप की गोद ली है। कौन-सा बाप है? परमपिता परम आत्मा माना परमात्मा। हमेशा जब समझाते हो तो ऐसे मत कहो बाबा ज्योतिर्लिंगम हैं, अथाह ज्योति स्वरूप है, हजार सूर्यों से तेजोमय हैं, यह कहना वास्तव में रांग है। क्या कहना है? परमपिता परमात्मा यानी परम आत्मा, वह सदैव परमधाम में रहते हैं। परम अर्थात् ऊंच ते ऊंच इनकारपोरियल फादर। वह सभी आत्माओं का बाप है इसलिए उनको सुप्रीम कहा जाता है। वह जन्म-मरण के चक्र में नहीं आते हैं। समझाते हैं – बच्चे, मैं भी अगर जन्म-मरण के चक्र में आऊं तो फिर सबका उद्धार कौन करे? मैं ही आकर सभी को दु:खों से पार कर ले जाता हूँ। दु:ख हर्ता और सुख देने वाला मैं हूँ परन्तु जानते नहीं हैं। भक्ति मार्ग में गाते रहते हैं – ओ परमपिता परमात्मा! जरूर समझते हैं वह फादर है। परन्तु हमारा बाप कैसे है, वह क्या चीज़ है – यह नहीं जानते हैं। मनुष्य जैसा रूप तो है नहीं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी याद करते हैं। वह तो इन आंखों से देखने में आते हैं। बाकी यह (शिव) कौन हैं, शिव के मन्दिर में जाते हैं परन्तु उनको क्यों याद करते हैं, यह नहीं जानते।

बाप बैठ समझाते हैं देवी-देवतायें जब वाममार्ग में आते हैं तो सोमनाथ का मन्दिर बनाते हैं। सिर्फ इतना समझते हैं कि शिवबाबा है, परन्तु यह नहीं जानते कि वह स्वर्ग का रचयिता है। हमको स्वर्ग का मालिक बनाने वाला है। अगर जानते तो औरों को शिवबाबा की बायोग्राफी बतलाते। ड्रामा में नूँध ही न जानने की है। जानना अर्थात् वर्सा पाना। न जानना अर्थात् वर्सा गँवाना। बाप कहते हैं मैं स्वर्ग का रचयिता तुमको सुख देता हूँ, पावन बनाता हूँ। फिर 5 विकार तुमको पतित बनाते हैं। कलायें कमती होती जाती हैं। तुम काले हो जाते हो। पहले तुम 16 कला सम्पूर्ण चन्द्रमा थे, पावन थे, अब तुम्हारे को ग्रहण लग गया है। बाबा कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। पांच विकारों को ही ग्रहण कहा जाता है। जिससे तुम आत्मा दु:खी, काली बन पड़ती हो। बाप कहते हैं मैं तुम ब्राह्मणों का बाप हूँ। हे ब्राह्मणों, तुम्हारे पास जो यह 5 विकार हैं यह मुझे दान में दे दो तो ग्रहण छूटे। आज से दान देकर फिर कभी उनसे कुछ नहीं करना। माया के तूफान तो बहुत आयेंगे। लेकिन कर्मेन्द्रियों से क्रोध आदि करने से पाप हो जायेगा। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति भी तुमको समझाता हूँ। तुम्हारा कर्म विकर्म नहीं बनना चाहिए। मैं तुम बच्चों को विकर्माजीत बनाता हूँ। यह तो राहू का ग्रहण है। दे दान तो छूटे ग्रहण। बाप कहते हैं – मेरे मीठे बच्चे, यह 5 भूतों का दान दो, इसमें पैसे आदि की तो कोई बात नहीं। यह तो बाप है, तुम सगे बच्चे हो। बाप को तो सगे बच्चों को मदद करनी ही है। तुम भी तन-मन-धन से सेवा करते हो। बाप का भी फ़र्ज है तुम्हारी सेवा करे। बाप कहते हैं – यह सब कुछ तुम बच्चों का है। भक्ति मार्ग में तुम भगवान् को देते आये हो। परन्तु ईश्वर कोई भूखा थोड़ेही है। यह तुम इनश्योर करते हो। ईश्वर को देने से ईश्वर फिर दूसरे जन्म में तुमको देंगे। यह इनश्योर करना हुआ ना। दूसरे जन्म में इसका फल मिलता है। ईश्वर है दाता। अभी तुम अपने को इनश्योर करते हो – 21 जन्म लिए। वह इनश्योर करते हैं एक जन्म के लिए। यहाँ तो सब कुछ इनश्योर हो जाता है – 21 जन्मों के लिए। कहा जाता है सन शोज़ फादर। देखो फादर (ब्रह्मा बाबा) के पास जो कुछ था सब ईश्वर अर्थ बच्चों की सेवा में लगा दिया, शिवबाबा को वारिस बना दिया, तन-मन-धन सब कुछ दे दिया तो उनके बदले में फिर अपने पुरुषार्थ से विश्व की बादशाही मिलती है क्योंकि डायरेक्ट है ना। तुम मेरा बनने से 21 जन्म स्वर्ग के मालिक बनते हो परन्तु जितना बलि चढ़ेंगे, उतना वर्सा मिलेगा। देह सहित सब कुछ बलि चढ़ाना है। जो मदर-फादर को फालो करेंगे वही तख्त पर भी बैठेंगे। तो बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। दान देकर और फिर अगर वापिस ले लिया तो दुर्गति को ही पायेंगे। पूरा पुरुषार्थ करना है। पुरुषार्थी स्टूडेन्ट अच्छी रीति पढ़ते तो नम्बर भी लेते हैं। तुम भी पुरुषार्थ कर ऊंच नम्बर लो। इसमें कोई तकलीफ की बात नहीं, सिर्फ पवित्र रहना है। इसके लिए बाबा से बल भी मिलता है। खुशी का पारा भी चढ़ता है।

हमको देवता बनना है तो कोई अवगुण नहीं होना चाहिए। 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी यहाँ ही बनना है तो कोई अवगुण नहीं होना चाहिए। आधाकल्प विकारी बने हो तो माया भी कहती है अभी यह निर्विकारी बनते हैं, हम फिर विकारी बनाती हूँ। यह चलती है माया की युद्ध। यह है मुश्किलात। माया पर जीत पानी है। उन्होंने फिर हिंसक लड़ाई दिखाए खण्डन कर दिया है। तुम माया पर जीत पाने से विश्व के मालिक बनते हो। बच्चे समझते हैं बाप को 5 विकारों का दान नहीं देंगे तो श्री नारायण वा लक्ष्मी को वर नहीं सकेंगे। तो तुम बच्चों को दिल दर्पण में देखना चाहिए – मैंने कर्मेन्द्रियों से तो नहीं कुछ किया? माया के तूफान तो आगे से भी जबरदस्त आयेंगे। वैद्य लोग दवाई देते हैं तो कहते हैं कि पहले वाली पुरानी बीमारी बाहर निकलेगी। इसमें डरना नहीं है। यह तो आयेंगे। यह भी सर्जन है। कहते हैं कि तुम मेरे बच्चे बनेंगे तो फिर तुम्हारी खूब रावण से युद्ध होगी। माया खूब वार करने लगेगी इसलिए तूफान से डरना नहीं है। बाप के बने हो तो यह बचपन भूल नहीं जाना। यह है ईश्वरीय बचपन। ईश्वर की गोद में एक बार आये फिर देवताई गोद में 21 बार जायेंगे। ईश्वरीय जन्म के बाद तुम स्वर्ग में जाते हो। सर्टीफिकेट लेना है। बाबा, हम आपका सपूत बच्चा हूँ या कपूत? तो बाबा बतला सकते हैं, सपूत भी किस नम्बर में हो? क्या ख़ामी है? बाबा बतला सकते हैं। खुद भी समझ सकते हैं कि हम सर्विस नहीं करते हैं तो इतना ऊंच पद कैसे पायेंगे? अच्छा, बाबा कहते हैं तुम क्या करो, एक हॉस्पिटल अथवा कॉलेज खोल दो। भल तुम इसमें जाना नहीं, और बहुत लोग शफा पायेंगे तो उसका इज़ाफा तुमको मिलेगा। मनुष्य धर्मशाला बनाते हैं, इसलिए कि बहुत आकर विश्राम पायेंगे तो दूसरे जन्म में उसको अच्छा महल मिलेगा। बाबा के पास बहुत आते हैं, कहते हैं यह हॉस्पिटल खोलो, हम मदद देंगे। बड़ी हॉस्पिटल खोलो। अगर ज्ञान उठाने की खुद को फुर्सत नहीं, तो अच्छा तीन पैर पृथ्वी के लेकर यह हॉस्पिटल कम कॉलेज खोल दो। हॉस्पिटल से एवरहेल्दी बनेंगे। कॉलेज से एवरवेल्दी बनते हैं। बहुत आकर बनेंगे तो तुम्हारा पुण्य होगा। जास्ती खर्चा भी नहीं है। आजकल पैसे कितने कमाते हैं, करोड़ों के आसामी हैं! क्या उनके पुत्र-पोत्रे खायेंगे? धूर भी नहीं, सब विनाश हो जायेगा। राजाई गरीबों को मिलती है। गरीब निवाज है ना। यह बाबा नम्बरवन साधारण था। हजार दो हैं तो उनको गरीब कहेंगे। यहाँ गरीब भी अच्छा पद पा सकते हैं। किसका लाख-करोड़ लेकर क्या करेंगे? गरीबों की पाई-पाई से ही स्थापना करते हैं। गांधी को कितना दान देते थे, उसमें कितने मरे! कितनी तकलीफें सहन की! तुमको तो कोई तकलीफ नहीं। बाप कहते हैं तुम पहले राजयोग सीखो तो तुमको राजाई देंगे। यह राज्य तो मृगतृष्णा सदृश्य है। कहानी है ना द्रोपदी ने दुर्योधन को निमंत्रण दिया। वह आया तो तालाब समझ वस्त्र उतारने लगा तो द्रोपदी ने कहा – अन्धे की औलाद अन्धे, यह तो रुण्य का पानी (मृगतृष्णा) है। सभी समझते हैं हमने स्वराज्य पा लिया है, परन्तु कितना दु:ख है! प्रजा कितनी दु:खी हैं, मौत सामने खड़ा है। बाप कहते हैं यह सब मरे पड़े हैं। कब्रिस्तान है, तुमको फिर परिस्तान बनाना है। हीरे-मोतियों के महल बनायेंगे। यहाँ तो यह पत्थरपुरी है, वहाँ होगी सोने की इसलिए बाप समझाते हैं – दे दान तो छूटे ग्रहण, फिर 16 कला सम्पूर्ण हो जायेंगे। अभी तुम पतित हो, मनुष्य कितने दु:खी हैं। लड़ाई लगती है तो नींद फिट जाती है। आराम नहीं आता है, नींद की गोली लेकर नींद करते हैं। यह है ही रावण राज्य। अभी दशहरे पर रावण को जलायेंगे, यह अन्त तक जलाते रहेंगे, जब तक कि विनाश हो। विनाश के बाद फिर रावण जलेगा नहीं। फिर द्वापर के बाद रावण निकालते हैं जलाने के लिए। साल-साल रावण को जलाते हैं परन्तु मरता ही नहीं। साल-साल तुम रक्षाबंधन मनाती हो, राखी बांधती हो फिर अपवित्र बन जाते हैं।

लक्ष्मी-नारायण के पास तो कितना अथाह धन था! कितनी उन्हों की पूजा होती है! पूजा सिर्फ लक्ष्मी की थोड़ेही करते हैं, चतुर्भुज की करते हैं। उसमें दोनों आ जाते हैं। लक्ष्मी के साथ नारायण तो जरूर चाहिए। इसलिए दोनों की पूजा करते हैं। जोड़ी बिगर काम कैसे चलेगा? प्रवृत्ति मार्ग है ना। तुम विश्व के मालिक बनते हो। बच्चे पूछते हैं दीवाली पर सब कहते हैं – अगर लक्ष्मी की पूजा नहीं करेंगे तो धन तुम्हारे पास नहीं आयेगा इसलिए बाबा राय देते हैं- बच्चे, इसमें भी साक्षी होकर पार्ट बजाओ, नहीं तो खिट-खिट होगी। जैसे बाबा कहते हैं – बच्ची की शादी करानी है तो साक्षी होकर पार्ट बजाओ, नहीं तो झगड़ा होगा। बच्चियां निर्विकारी नहीं रहना चाहती तो लाचारी हालत में उनकी शादी करा दो। पवित्र रहना नहीं चाहती हैं तो रवाना कर देना है, तंग नहीं करना है। कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमारियां हो, तुम्हारा धन्धा है ही सभी को स्वर्ग का मालिक बनाना। दिल से पूछो – हम कितने को आपसमान बनाते हैं? मिशन है ना। यहाँ तुम मनुष्य को देवता बनाते हो तो बहुत मेहनत करनी चाहिए। तुम खुदाई खिदमतगार हो। मैं तुमको दु:ख से छुड़ाए स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। मैं हूँ ही निष्काम। तुमको राजाई देकर मैं वानप्रस्थ में चला जाता हूँ। मुझे राजाई करने की तमन्ना नहीं है। तुमको राज्य देता हूँ। तुम अपना राज्य-भाग्य फिर से ले लो। तुम जानते हो हम सो देवी-देवता थे, 84 जन्म पास कर आज हम रावण की सम्‍प्रदाय बने। रावण को हमेशा जलाते हैं। रावण की कभी पूजा नहीं करते हैं। जो सुख देता है उनको पूजा जाता है। रावण का चित्र बनाया और जलाया, वह तो सदैव दु:ख देने वाला है। दु:ख देने वाले की महिमा फिर कैसे करेंगे? शिवबाबा है सुखदाता। उन पर रोज़ जाकर फूल चढ़ाते हैं। आक्यूपेशन तो कुछ भी नहीं जानते। आजकल तो अन्धश्रद्धा बहुत है।

बाबा कहते हैं जिससे तुमको स्वर्ग का सुख मिलता है ऐसे बाप को भूल नहीं जाना। फिर स्वर्ग के सुख घनेरे मिल नहीं सकेंगे। मम्मा-बाबा कहा तो स्वर्ग में तो आयेंगे परन्तु आकर नौकर चाकर बनेंगे। गीत का अर्थ भी बच्चों ने समझा। ईश्वर का बनकर इस बचपन को भूल नहीं जाना। आसुरी सन्तान से बदल तुम ईश्वरीय सन्तान बनते हो फिर दैवी सन्तान बनेंगे। यह है ईश्वरीय जन्म। इस समय तुम सेवाधारी हो। तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ईश्वरीय जन्म ले कोई भी अकर्तव्य नहीं करना है। सपूत बच्चा बनना है। अवगुण निकाल देवताई गुण धारण करने हैं।

2) खुदाई खिदमतगार बन रूहानी सेवा से सबको आप समान बनाना है। तीन पैर पृथ्वी लेकर रूहानी हॉस्पिटल वा कॉलेज खोल देना है। तन-मन-धन से पूरा मददगार बनना है।

वरदान:- पुराने हिसाब-किताब को समाप्त कर सम्पूर्णता का समारोह मनाने वाले बन्धनमुक्त भव
इस पराये देश में जब सभी बंधन-युक्त आत्मा बन जाते हैं तब बाप आकर स्वरूप और स्वदेश की स्मृति दिलाकर बन्धनमुक्त बनाए स्वदेश में ले जाते हैं और स्वराज्य अधिकारी बनाते हैं। तो अपने स्वदेश में चलने के लिए सब हिसाब-किताब के समाप्ति का समाप्ति समारोह मनाओ। जब अभी यह समारोह मनायेंगे तब अन्त में सम्पूर्णता समारोह मना सकेंगे। बहुतकाल के बन्धनमुक्त ही बहुतकाल के जीवनमुक्त पद को प्राप्त करते हैं।
स्लोगन:- अपने उमंग-उत्साह के सहयोग और मीठे बोल से कमजोर को शक्तिशाली बना देना ही शुभचिंतक बनना है।
Font Resize