daily murli 3 november

TODAY MURLI 3 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 November 2020

03/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only you are true, unique magicians. You have to perform the magic of changing humans into deities.
Question: What are the signs of good effort-making students?
Answer: They have the aim of passing with honours, that is, of going into the rosary of victory. They only have remembrance of the one Father in their intellects. They break their intellects’ yoga away from all bodily relations, including their own bodies and love only the One. Only such effort-makers become beads of the rosary.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. You spiritual children have now become magicians. The Father is therefore also called the Magician. There are no other magicians who can change human beings into deities. This is magic, is it not? You show the path to earn such a huge income. School teachers show you how to earn an income. This study is also an income. The stories and scriptures of the path of devotion are not called studies. There is no income in those; there is just expenditure there. The Father explains: You spent so much on the path of devotion, making pictures, building temples and worshipping. At least a teacher enables you to earn an income; there is a livelihood there. The study of you children is so elevated. All of you have to study. You children make human beings into deities. Through other studies you can become a barrister etc. That would just be for one birth. There is the difference of day and night. This is why you souls should have pure intoxication. This is incognito intoxication. It is the wonder of the unlimited Father. This is such spiritual magic! You have to become satopradhan by remembering the Spirit. A sannyasi told someone: Consider yourself to be a bull. That person then went and sat in a small room and considered himself to be that. Then, he said: I’m a bull, so how can I leave here? The Father says: You were pure souls but you have now become impure. By remembering the Father now, you will become pure. By listening to this knowledge you change from a human being into Narayan, that is, from a human being into a deity. There is the deity sovereignty. You children are now establishing the deity sovereignty over Bharat by following shrimat. The Father asks: Is the shrimat that I give you right or are the directions of the scriptures rightJudge for yourself! The Gita is called the Shrimad Bhagawad Gita, the jewel of all scriptures. It has been especially written. Now, who is the one called God? You would definitely all say that it is incorporeal Shiva. We souls are His children, brothers. He is the one Father. The Father says: All of you are lovers. You remember Me, the Beloved, because I taught you Raja Yoga through which you changed from human beings into Narayan in a practical way. Those people simply say that they are listening to the story of the true Narayan. They don’t believe that they can change from human beings into Narayan by doing that. The Father is giving each of you souls a third eye of knowledge through which you know about souls. A soul cannot speak without a body. The place of residence of souls is called the Land of Nirvana. You children now have to remember the land of peace and the land of happiness. Remove the land of sorrow from your intellects. You souls have now received the understanding of what is right and what is wrong. The significance of actions, neutral actions and sinful actions has also been explained to you. The Father only explains to you children and only you children understand these things. No other human beings even know the Father. The Father says: This drama is predestined. In Ravan’s kingdom everyone’s actions are sinful. In the golden age all actions are neutral. Some ask: Aren’t any children born there? Tell them: That is called the viceless world. So, where could the five vices come from? This is a very simple thing. The Father sits here and explains it. Therefore, those who understand this to be right very quickly become alert. Those who don’t understand this might do so as they make further progress. Moths come to a flame, leave and then return. That One is the Flame. Everyone is to be burnt in the Flame. This is just an explanation; there is no flame. That is a common thing. Many moths burn in a flame. At Deepawali so many tiny insects emerge and then die; they take birth and die. The Father explains: They come at the end, take birth and die again; they are just like insects. The Father has come to give you your inheritance. Therefore, you have to make effort to pass with honours. Good students make plenty of effort. This rosary is of those who pass with honours. Continue to make as much effort as possible. It is said: There are those whose intellects have no love at the time of destruction. You can explain this. Our intellects are loving to the Father. We remember no one but the Father. The Father says: Renounce your bodies and all your bodily relations and constantly remember Me alone. On the path of devotion you have been remembering Me a lot and saying: O Remover of Sorrow! Bestower of Happiness! Therefore, the Father is definitely the Bestower of Happiness. Heaven is called the land of happiness. The Father says: I have come to purify you. I come and shower the rain of knowledge on the children who have been burnt by sitting on the pyre of lust. I teach you children yoga. Remember the Father and your sins will be absolved and you will become the masters of the land of angels. You are also magicians. You children should have the intoxication of your true magic. Some magicians are very good and clever; they can make so many things emerge. This magic however is unique. No one but the One can teach it. You know that you are changing from human beings into deities. These teachings are for the new world. That is called the golden age, the new world. You are now at the confluence age. No one knows about this most elevated confluence age. You are becoming such elevated humans. The Father only explains to you souls. When you Brahmin teachers take class, it is your duty first of all to caution everyone. Say: Brothers and sisters, sit here considering yourselves to be souls. I, this soul, am listening through these organs. The Father has also explained to you the secrets of 84 births. Which human beings take 84 births? Not everyone takes them. No one even thinks about this. They simply say “It’s true!” to whatever they hear. When someone says that Hanuman emerged from the wind, they say, “It’s true!” Then they continue to relate such stories to others who continue to say, “It’s true! It’s true!” Each of you children has now received an eye of knowledge with which you understand what is right and what is wrong. Therefore, you must only perform right actions. You must also explain that you are receiving this inheritance from the unlimited Father. All of you have to make effort. That Father is the Father of all souls. The Father is telling you souls: Now remember Me! Consider yourselves to be souls! Sanskars are in each soul. Souls carry their sanskars with them. When someone’s name is glorified in childhood, it is understood that he performed such actions in his previous birth. If someone built a college in his previous birth he would receive a good education in his present birth. There is that karmic account of actions. In the golden age there is no question of sinful actions. You definitely perform actions there; you rule there and also eat there, but you do not perform any wrong actions. That is called the kingdom of Rama. This is the kingdom of Ravan. You are now establishing the kingdom of Rama by following shrimat. That is the new world. Not even a shadow of the deities can exist in the old world. If you were to place an idol of Lakshmi here, there would be a shadow of it, but there could not be a shadow of the living Lakshmi. You children know that everyone has to take rebirth. A water wheel continues to turn; this cycle of yours also continues to turn. These things are explained using examples. Purity is the best thing. Because a kumari is pure, everyone bows down to her. You are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. The majority of you are kumaris and this is why it is remembered that the arrows were shot by kumaris. Those arrows were arrows of knowledge. You sit and explain to them with a lot of love. The Father, the Satguru, is only one. He is the Bestower of Salvation for All. God speaks: Manmanabhav! This is also a mantra. It requires effort to consider yourself to be a soul and remember the Father. This effort is incognito. Souls have become tamopradhan and have to become satopradhan once again. The Father has explained: Souls and the Supreme Soul have remained separated for a long time. Those who became separated first are the ones who meet Him first. This is why the Father says: Beloved, long-lost and now-found children. The Father knows when you began worshipping. It is half and half: for half the cycle, there is knowledge and for half the cycle, there is worshipping. There is day and night. In 24 hours there are 12 hours am and 12 hours pm. The cycle too is half and half: there is the day of Brahma and the night of Brahma. So, why have they given the iron age such a long duration? You can now explain to them what is right and what is wrong. All the scriptures belong to the path of devotion. God comes and gives the fruit of devotion. He is called The Protector of Devotees. As you make further progress, you will sit with sannyasis and explain to them with a lot of love. They would not fill in the form that you ask them to. They would not write down the name of their mother and father. Some may do this. Baba used to go and ask them why they renounced everything. They renounce vices and also renounce their household. You now renounce the whole of the old world. You have been given visions of the new world. That is the viceless worldHeavenly God, the Father, is the One who establishes heaven. He creates the garden of flowers. He changes thorns into flowers. The number one thorn is the sword of lust. You would call lust a sword and you would call anger an evil spirit. Deities are doubly non-violent. All vicious human beings bow down in front of the viceless deity idols. You children now understand that you have come here in order to study. To go to spiritual gatherings is a common thing. They say that God is omnipresent. Can a father ever be omnipresent? You children receive your inheritance from the Father. The Father comes and makes the old world into the new world of heaven. Some people don’t even consider hell to be hell. Wealthy people think: What does heaven have to offer? We have wealth, palaces and aeroplanes, etc. We have everything; it is heaven for us here. It is hell for those who are living in the slums. Bharat is so poor and poverty-stricken. History has to repeat again. You should have the intoxication that the Father is once again making you double crowned. You now know the past, present and future. Baba has told you the story of the golden age and the silver age. Then, in the middle of the cycle, you start to come down. The path of sin is the path of descending. The Father has now come again. You consider yourselves to be swadarshanchakradhari. It isn’t that you spin a discus and cut someone’s throat. They have portrayed Krishna spinning a discus and they say that he killed devils with it. There was nothing like that. You understand that you are swadarshanchakradhari Brahmins. You have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Deities do not have this knowledge there. There, they are in salvation which is why that is said to be the day. There is difficulty at night. People do so much hatha yoga in their devotion in order to receive a vision. Those who perform intense devotion are ready to sacrifice their lives. Only then are they granted a vision. According to the drama, their desires are fulfilled for a temporary period. However, God doesn’t do anything. The part of devotion continues for half the cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Maintain the spiritual intoxication that Baba is making you doublecrowned. We are swadarshanchakradhari Brahmins. Continue to move along with the knowledge of the past, present and future in your intellect.
  2. In order to pass with honours,have true love for the Father. Make the incognito effort of remembering the Father.
Blessing: May you become an image of experience and reveal the Father with your experience of all virtues.
Become experienced in all the virtues that you sing of the Father. As the Father is the Ocean of Bliss, move along in the waves of the ocean of bliss. Whoever comes into connection with you, give them the experience of bliss, love, happiness and all virtues. Become an embodiment of all virtues in this way, and the Father’s image will be revealed through you because only you great souls can reveal the Supreme Soul with your images of experience.
Slogan: Transform excuses into solutions and take inauspicious things as auspicious.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

03-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम ही सच्चे अलौकिक जादूगर हो, तुम्हें मनुष्य को देवता बनाने का जादू दिखाना है”
प्रश्नः- अच्छे पुरूषार्थी स्टूडेन्ट की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह पास विद् ऑनर होने का अर्थात् विजय माला में आने का लक्ष्य रखेंगे। उनकी बुद्धि में एक बाप की ही याद होगी। देह सहित देह के सब सम्बन्धों से बुद्धियोग तोड़ एक से प्रीत रखेंगे। ऐसे पुरूषार्थी ही माला का दाना बनते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। अब तुम रूहानी बच्चे जादूगर-जादूगरनी बन गये हो इसलिए बाप को भी जादूगर कहते हैं। ऐसा कोई जादूगर नहीं होगा – जो मनुष्य को देवता बना दे। यह जादूगरी है ना। कितनी बड़ी कमाई कराने का तुम रास्ता बताते हो। स्कूल में टीचर भी कमाई करना सिखलाते हैं। पढ़ाई कमाई है ना। भक्ति मार्ग की कथायें शास्त्र आदि सुनना, उसको पढ़ाई नहीं कहेंगे। उसमें कोई आमदनी नहीं, सिर्फ पैसा खर्च होता है। बाप भी समझाते हैं – भक्ति मार्ग में चित्र बनाते, मन्दिर आदि बनाते, भक्ति करते-करते तुमने कितने पैसे खर्च कर लिये हैं। टीचर तो फिर भी कमाई कराते हैं। आजीविका होती है। तुम बच्चों की पढ़ाई कितनी ऊंची है। पढ़ना भी सबको है। तुम बच्चे मनुष्य से देवता बनाने वाले हो। उस पढ़ाई से तो बैरिस्टर आदि बनेंगे, सो भी एक जन्म के लिए। कितना रात-दिन का फ़र्क है इसलिए तुम आत्माओं को शुद्ध नशा रहना चाहिए। यह है गुप्त नशा। बेहद के बाप की तो कमाल है। कैसा रूहानी जादू है। रूह को याद करते-करते सतोप्रधान बन जाना है। जैसे संन्यासी लोग कहते हैं ना – तुम समझो मैं भैंस हूँ… ऐसा समझकर कोठी में बैठ गया। बोला मैं भैंस हूँ, कोठी से निकलूँ कैसे? अब बाप कहते हैं तुम पवित्र आत्मा थे, अब अपवित्र बने हो फिर बाप को याद करते-करते तुम पवित्र बन जायेंगे। इस ज्ञान को सुनकर नर से नारायण अथवा मनुष्य से देवता बन जाते हो। देवताओं की भी सावरन्टी है ना। तुम बच्चे अब श्रीमत पर भारत में डीटी सावरन्टी स्थापन कर रहे हो। बाप कहते हैं – अब मैं जो तुमको श्रीमत देता हूँ यह राइट है या शास्त्र की मत राइट है? जज करो। गीता है सर्व शास्त्र शिरोमणी श्रीमद् भगवत गीता। यह खास लिखा है। अब भगवान किसको कहा जाए? जरूर सब कहेंगे – निराकार शिव। हम आत्मायें उनके बच्चे ब्रदर हैं। वह एक बाप है। बाप कहते हैं तुम सब आशिक हो – मुझ माशूक को याद करते हो क्योंकि मैंने ही राजयोग सिखाया था, जिससे तुम प्रैक्टिकल में नर से नारायण बनते हो। वह तो कह देते कि हम सत्य नारायण की कथा सुनते हैं। यह कोई समझते थोड़ेही है कि इससे हम नर से नारायण बनेंगे। बाप तुम आत्माओं को ज्ञान का तीसरा नेत्र देते हैं, जिससे आत्मा जान जाती है। शरीर बिगर तो आत्मा बात कर नहीं सकती। आत्माओं के रहने के स्थान को निर्वाणधाम कहा जाता है। तुम बच्चों को अब शान्तिधाम और सुखधाम को ही याद करना है। इस दु:खधाम को बुद्धि से भूलना है। आत्मा को अब समझ मिली है – रांग क्या है, राइट क्या है? कर्म, अकर्म, विकर्म का भी राज़ समझाया है। बाप बच्चों को ही समझाते हैं और बच्चे ही जानते हैं। और मनुष्य तो बाप को ही नहीं जानते। बाप कहते हैं यह भी ड्रामा बना हुआ है। रावण राज्य में सबके कर्म विकर्म ही होते हैं। सतयुग में कर्म अकर्म होते हैं। कोई पूछे वहाँ बच्चे आदि नहीं होते? बोलो, उसको कहा ही जाता है वाइसलेस वर्ल्ड, तो वहाँ यह 5 विकार कहाँ से आये। यह तो बहुत सिम्पुल बात है। यह बाप बैठ समझाते हैं, जो राइट समझते हैं वह तो झट खड़े हो जाते हैं। कोई नहीं भी समझते हैं, आगे चल समझ में आ जायेगा। शमा पर पतंगे आते हैं, चले जाते हैं फिर आते हैं। यह भी शमा है, सब जलकर खत्म होने हैं। यह भी समझाया जाता है – बाकी शमा कोई है नहीं। वह तो कॉमन है। शमा पर पतंगे बहुत जलते हैं। दीपावली पर कितने छोटे-छोटे मच्छर निकलते हैं और खत्म हो जाते हैं। जीना और मरना। बाप भी समझाते हैं – पिछाड़ी में आकर जन्म ले और मर जायें। वह तो जैसे मच्छरों मिसल हो गये। बाप वर्सा देने आये हैं तो पुरूषार्थ कर पास विद् ऑनर होना चाहिए। अच्छे स्टूडेण्ट बहुत पुरूषार्थ करते हैं। यह माला भी पास विद् ऑनर्स की ही है। जितना हो सके पुरूषार्थ करते रहो। विनाश काले विपरीत बुद्धि कहते हैं। इस पर भी तुम समझा सकते हो। हमारी बाप के साथ प्रीत बुद्धि है। एक बाप के सिवाए हम और कोई को याद नहीं करते। बाप कहते हैं देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो। भक्ति मार्ग में बहुत याद करते आये हो – हे दु:ख हर्ता, सुख कर्ता…… तो जरूर बाप सुख देने वाला है ना। स्वर्ग को कहा ही जाता है सुखधाम। बाप समझाते हैं मैं आया ही हूँ पावन बनाने। बच्चे जो काम चिता पर बैठ भस्म हो गये हैं, उन पर आकर ज्ञान की वर्षा करता हूँ। तुम बच्चों को योग सिखलाता हूँ – बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और तुम परिस्तान के मालिक बन जायेंगे। तुम भी जादूगर ठहरे ना। बच्चों को नशा रहना चाहिए – हमारी यह सच्ची-सच्ची जादूगरी है। कोई-कोई बहुत अच्छे होशियार जादूगर होते हैं। क्या-क्या चीज़ें निकालते हैं। यह जादूगरी फिर अलौकिक है अर्थात् सिवाए एक के और कोई सिखला न सके। तुम जानते हो हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। यह शिक्षा है ही नई दुनिया के लिए। उनको सतयुग न्यु वर्ल्ड कहा जाता है। अभी तुम संगमयुग पर हो। इस पुरूषोत्तम संगमयुग का किसको भी पता नहीं है। तुम कितना उत्तम पुरूष बनते हो। बाप आत्माओं को ही समझाते हैं। क्लास में भी तुम ब्राह्मणियाँ जब बैठती हो तो तुम्हारा काम है पहले-पहले सावधान करना। भाइयों-बहनों अपने को आत्मा समझ कर बैठो। हम आत्मा इन आरगन्स द्वारा सुनते हैं। 84 जन्म का राज़ भी बाप ने समझाया है। कौन से मनुष्य 84 जन्म लेते हैं? सब तो नहीं लेंगे। इस पर भी कोई का ख्याल नहीं चलता है। जो सुना वह कह देते हैं सत। हनूमान पवन से निकला – सत। फिर दूसरों को भी ऐसी-ऐसी बातें सुनाते रहते हैं और सत-सत करते रहते हैं।

अभी तुम बच्चों को राइट और रांग को समझने की ज्ञान चक्षु मिली है तो राइट कर्म ही करना है। तुम समझाते भी हो हम बेहद बाप से यह वर्सा ले रहे हैं। तुम सब पुरूषार्थ करो। वह बाप सभी आत्माओं का पिता है। तुम आत्माओं को बाप कहते हैं अब मुझे याद करो। अपने को आत्मा समझो। आत्मा में ही संस्कार हैं। संस्कार ले जाते, कोई का नाम छोटेपन में बहुत हो जाता है तो समझा जाता है इसने अगले जन्म में ऐसे कोई कर्म किये हैं, कोई ने कॉलेज आदि बनाये हैं तो दूसरे जन्म में अच्छा पढ़ते हैं। कर्मों का हिसाब-किताब है ना। सतयुग में विकर्म की बात ही नहीं होगी। कर्म तो जरूर करेंगे। राज्य करेंगे, खायेंगे परन्तु उल्टा कर्म नहीं करेंगे। उनको कहा ही जाता है रामराज्य। यहाँ है रावण राज्य। अभी तुम श्रीमत पर रामराज्य स्थापन कर रहे हो। वह है नई दुनिया। पुरानी दुनिया पर देवताओं की परछाई नहीं पड़ती है। लक्ष्मी का जड़ चित्र उठाकर रखो तो परछाई पड़ेगी, चैतन्य की नहीं पड़ सकती। तुम बच्चे जानते हो सबको पुनर्जन्म लेना ही पड़े। नार की कंगनी (कुएं से पानी निकालने की एक विधि) होती है ना, फिरती रहती है। यह भी तुम्हारा चक्र फिरता रहता है। इस पर ही दृष्टान्त समझाये जाते हैं। पवित्रता तो सबसे अच्छी है। कुमारी पवित्र है इसलिए सब उनके पांव पड़ते हैं। तुम हो प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। मैजारिटी कुमारियों की है इसलिए गायन है कुमारी द्वारा बाण मरवाये। यह है ज्ञान बाण। तुम प्रेम से बैठ समझाते हो। बाप सतगुरू तो एक ही है। वह सर्व का सद्गति दाता है। भगवानुवाच – मनमनाभव। यह भी मंत्र है ना, इसमें ही मेहनत है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह है गुप्त मेहनत। आत्मा ही तमोप्रधान बनी है फिर सतोप्रधान बनना है। बाप ने समझाया है – आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. जो पहले-पहले बिछुड़े हैं, मिलेंगे भी पहले उनको। इसलिए बाप कहते हैं लाडले सिकीलधे बच्चों। बाप जानते हैं कब से भक्ति शुरू की है। आधा-आधा है। आधाकल्प ज्ञान, आधाकल्प भक्ति। दिन और रात 24 घण्टे में भी 12 घण्टे ए.एम. और 12 घण्टे पी.एम. होता है। कल्प भी आधा-आधा है। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात फिर कलियुग की आयु इतनी लम्बी क्यों दे देते हैं? अभी तुम राइट-रांग बतला सकते हो। शास्त्र सब हैं भक्ति मार्ग के। फिर भगवान आकर भक्ति का फल देते हैं। भक्तों का रक्षक कहा जाता है ना। आगे चल तुम संन्यासियों आदि को बहुत प्यार से बैठ समझायेंगे। तुम्हारा फॉर्म तो वह भरेंगे नहीं। माँ-बाप का नाम लिखेंगे नहीं। कोई-कोई बताते हैं। बाबा जाकर पूछते थे – क्यों संन्यास किया, कारण बताओ? विकारों का संन्यास करते हैं, तो घर का भी संन्यास करते हैं। अभी तुम सारी पुरानी दुनिया का संन्यास करते हो। नई दुनिया का तुमको साक्षात्कार करा दिया है। वह है वाइसलेस वर्ल्ड। हेविनली गॉड फादर है हेविन स्थापन करने वाला। फूलों का बगीचा बनाने वाला। कांटों को फूल बनाते हैं। नम्बरवन कांटा है – काम कटारी। काम के लिए कटारी कहते हैं, क्रोध को भूत कहेंगे। देवी-देवतायें डबल अहिंसक थे। निर्विकारी देवताओं के आगे विकारी मनुष्य सब माथा टेकते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो – हम यहाँ आये हैं पढ़ने के लिए। बाकी उन सतसंगों आदि में जाना वह तो कॉमन बात है। ईश्वर सर्वव्यापी कह देते हैं। बाप कभी सर्वव्यापी होता है क्या? बाप से तुम बच्चों को वर्सा मिलता है। बाप आकर पुरानी दुनिया को नई दुनिया स्वर्ग बनाते हैं। कई तो नर्क को नर्क भी नहीं मानते हैं। साहूकार लोग समझते हैं फिर स्वर्ग में क्या रखा है। हमारे पास धन महल विमान आदि सब कुछ है, हमारे लिए यही स्वर्ग है। नर्क उनके लिए है जो किचड़े में रहते हैं इसलिए भारत कितना गरीब कंगाल है फिर हिस्ट्री-रिपीट होनी है। तुमको नशा रहना चाहिए – बाप हमको फिर से डबल सिरताज बनाते हैं। पास्ट-प्रेजन्ट-फ्युचर को जान गये हो। सतयुग-त्रेता की कहानी बाबा ने बताई है फिर बीच में हम नीचे गिरते हैं। वाम मार्ग है विकारी मार्ग। अब फिर बाप आया है। तुम अपने को स्वदर्शन चक्रधारी समझते हो। ऐसे नहीं कि चक्र फिराते हो, जिससे गला कट जाये। कृष्ण को चक्र दिखाते हैं कि दैत्यों को मारते रहते हैं, ऐसी बात तो हो न सके। तुम समझते हो हम ब्राह्मण हैं स्वदर्शन चक्रधारी। हमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज है। वहाँ देवताओं को तो यह ज्ञान नहीं रहेगा। वहाँ है ही सद्गति इसलिए उनको कहा जाता है दिन। रात में ही तकलीफ होती है। भक्ति में कितने हठयोग आदि करते हैं – दर्शन के लिए। नौधा भक्ति वाले प्राण निकालने के लिए तैयार हो जाते हैं तब साक्षात्कार होता है। अल्पकाल के लिए चाहना पूरी होती है – ड्रामा अनुसार। बाकी ईश्वर कुछ नहीं करता है। आधाकल्प भक्ति का पार्ट चलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इसी रूहानी नशे में रहना है कि बाबा हमें डबल सिरताज बना रहे हैं। हम हैं स्वदर्शन चक्रधारी ब्राह्मण। पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर का ज्ञान बुद्धि में रखकर चलना है।

2) पास विद् ऑनर होने के लिए बाप से सच्ची-सच्ची प्रीत रखनी है। बाप को याद करने की गुप्त मेहनत करनी है।

वरदान:- सर्व गुणों के अनुभवों द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करने वाले अनुभवी मूर्त भव
जो बाप के गुण गाते हो उन सर्व गुणों के अनुभवी बनो, जैसे बाप आनंद का सागर है तो उसी आनंद के सागर की लहरों में लहराते रहो। जो भी सम्पर्क में आये उसे आनदं, प्रेम, सुख… सब गुणों की अनुभूति कराओ। ऐसे सर्व गुणों के अनुभवी मूर्त बनो तो आप द्वारा बाप की सूरत प्रत्यक्ष हो क्योंकि आप महान आत्मायें ही परम आत्मा को अपने अनुभवी मूर्त से प्रत्यक्ष कर सकती हो।
स्लोगन:- कारण को निवारण में परिवर्तन कर अशुभ बात को भी शुभ करके उठाओ।

TODAY MURLI 3 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 November 2019

03/11/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/03/85

The present Godly birth is an invaluable birth.

Today, the Father, the Jewel Merchant, is seeing His invaluable jewels. This is the court of invaluable alokik jewels. Each and every jewel is invaluable. If you were to accumulate all the property of the world at the present time or if you were to accumulate all the treasures of the world, compared with those, each and every Godly jewel is so much more valuable. In front of one of you jewels, all the treasures of the world are nothing. You are such invaluable jewels. You invaluable jewels cannot be found at any time of the cycle other than the confluence age. The parts of the golden-aged deity souls comes second behind the parts of the confluence-aged invaluable Godly jewels. At present you are the children of God whereas in the golden age you will be the children of the deities. Just as the name, praise, birth and acts of God are the most elevated of all, in the same way, the value of the Godly jewels or souls who are the children of God is most elevated. The memorial of this elevated praise and elevated value is even today remembered and worshipped in the form of the nine jewels. The nine jewels are remembered as destroyers of various obstacles. Depending on the obstacle they face, they make a ring accordingly and wear that, or they make a locket or they place that particular jewel in some form of ornament in their home. Even now, in your last birth, you can see your memorial in the form of the destroyer of obstacles. You are definitely numberwise but, whilst being numberwise, all of you are invaluable and destroyers of obstacles. Even today, souls give regard to you jewels in your elevated forms. They look after them (your idols) carefully with a lot of love and cleanliness, because even if all of you don’t consider yourselves to be that worthy, the Father has made all of you souls worthy and made you belong to Him. He has accepted: You are Mine and I am yours. A soul on which God’s vision falls definitely becomes invaluable through having God’s vision on him. Because of God’s drishti, such a soul definitely becomes an elevated soul of the spiritual world, of God’s creation. When you come into the company of the Lord of Divinity (Parasnath, the Alchemist), you are definitely coloured by the stone (paras – alchemist’s stone). Therefore, because you receive the drishti of God’s love, your memorial exists throughout the whole cycle. Whether it is in the form of living deities or in the form of non-living images of half the cycle, or in the form of various memorials, or in whatever form the memorial of you jewels it is, there is a memorial of you, even in the form of stars. In whatever form there is a memorial of you, you have been loved by everyone through the whole cycle, because the loving drishti of the imperishable Ocean of Love has made you have a right to receive love throughout the whole cycle. This is why devotees are desperate for a glimpse of even a moment or half a moment, so that they can go beyond with just a glimpse. This is why the vision of love received at this time makes you worthy of imperishable love. You automatically have imperishable attainment. He remembers you with love, keeps you with love and looks at you with love.

Secondly, cleanliness, that is, purity. At this time, you attain from the Father the birthright of purity. You know that your original religion is of purity, that is, of cleanliness. This is why, because you have adopted purity, wherever there is a memorial to you, purity and cleanliness continue to exist there as a memorial. For half the cycle there is the pure sustenance and the pure world. So, for half the cycle you are born through purity and sustained with purity, and for half the cycle you are worshipped with purity.

Thirdly, He looks after you with a lot of love from His heart; He looks after you, considering you to be elevated and invaluable. This is because, at this time, God Himself in the form of the Mother and Father looks after you children, that is, He sustains you. So, because your sustenance is imperishable and because you are looked after with imperishable love, you are looked after throughout the whole cycle with great royalty, love and regard. You become worthy of being looked after eternally with such love, cleanliness, purity and affection. So, do you understand how invaluable you are? Each jewel has so much value! So, today, the Father, the Jewel Merchant was looking at the value of every jewel. All the countless souls of the world are on one side, but you five Pandavas are more powerful than those countless ones. Those countless ones are not equal to even one of you; you are that powerful. Therefore, you have become so valuable. Do you know your value? Or do you sometimes forget yourself? When you forget yourself you become distressed. Don’t forget yourself. Always continue to move along considering yourself to be invaluable, but don’t make a tiny mistake. You are invaluable, but you are invaluable because of the Father’s company. If you forget the Father and simply think of yourself, that is wrong. Don’t forget the One who has created you. You have become this, but you have been made this by the One who created you. This is the way to understand it. If you forget the method, then the understanding changes into a kind of senselessness. There is then the consciousness of “I”. By forgetting the method, you don’t experience success. Therefore, know yourself to be invaluable in the right way and become the ancestors of the world. Also, don’t become distressed thinking that you are nothing. Neither think, “I am nothing”, nor think, “I alone am everything.” Both are wrong. “I am that but the One who created me has made me that”. When you remove the Father, that becomes a sin. When the Father is there, there is no sin. Where there is the name of the Father, there is no name or trace of sin and, when there is sin, there is no name or trace of the Father. So, do you understand your value?

You have become worthy of God’s drishti. This is no ordinary thing. You have become worthy of sustenance. You have claimed a right to the imperishable birthright of purity. This is why your birthright is never difficult to attain; it is attained easily. You yourselves have the experience of being the children who have a right and you therefore don’t find it difficult to observe purity. Those who find purity difficult fluctuate a lot. Purity is the religion of the self. It is your birthright, and so it would always seem easy. Why do people of the world run away? They find purity difficult. Those souls, who don’t have this right, would definitely find it difficult. As soon as souls who have a right come they would immediately have the determined thought that purity is their right from the Father and that they therefore definitely have to become pure. Their hearts would be constantly attracted by purity. If, whilst they are moving along, Maya comes in some form to test them in their thoughts or dreams, then, because souls who have a right are knowledgefull, they would not be afraid but would change their thoughts with the power of knowledge. Having had one thought they will not create many thoughts. They will not transform a trace of something into the form of its progeny. “What happened? This happened….” This is the progeny. You were told that, by asking questions, you form a queue. You create progeny in this way. Something comes and then goes away for good. It comes to test you, and as soon as you pass, it’s over. “Why did Maya come? Where did she come from? She came from here, she came from there. She shouldn’t have come. Why did she come?” There shouldn’t be this progeny. OK, she came. So, don’t make her sit! Chase her away! If you think “Why did she come?” she will sit down. She came to make you move forward and to test you. She came to make you move forward in class and to make you experienced. “Why did she come? She came like this, she came like that.” Don’t think this. Then you think “Does Maya have such a form too? It is red, it is green, it is yellow!” You go into this expansion. Don’t go into this expansion. Why are you afraid? Just overcome it. Just pass with honours. You have the power of knowledge, your weapon. You are master almighty authorities, you are trikaldarshi, the triveni (a confluence of three rivers). What are you lacking? Don’t be afraid so quickly! You are afraid even if an ant comes. You think too much. To think means to give hospitality to Maya. She then makes her home there. What would you do if, whilst walking along a road, you saw something dirty? Would you stand there and think “Who threw this here? What happened? It shouldn’t be here.” Would you think these things or would you step aside and move on? Don’t allow the progeny of too many waste thoughts to be created. Finish the form of it at the start. First, it is a matter of a second and you then expand it into something that requires hours, days or even months. Then, if you are asked after one month what happened, you would find that it was a matter of just a second. Therefore, don’t be afraid. Go into the depths: go into the depths of knowledge, not into the depths of the situation. When BapDada sees such elevated, invaluable jewels playing with small specks of dust, He thinks that these jewels who are the ones who should be playing with jewels are actually playing with specks of dust! You are jewels and so you should therefore play with jewels.

BapDada has sustained you with such loving fondness. So how would He be able to bear seeing you playing with specks of dust? You get dirty and say: Now clean us, clean us! You also get afraid. What should I do now? How should I do this now? Why do you play with mud? And in that too, it is bits of mud that stay on the ground. So always know your own value. Achcha.

To such souls who are invaluable throughout the whole cycle, to the souls who are worthy of God’s love, to the souls who are worthy of receiving God’s sustenance, to the souls who have a right to the birthright of purity, to the souls who always attain success with the method of being together with the Father, to the royal children who become invaluable jewels and always play with jewels, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Do you always consider yourselves to be souls who are merged in the Father’s eyes, who are merged in the eyes, those who are very light points? So, you are constantly points and you become the points who are always merged in the Father’s eyes. BapDada is merged in your eyes and all of you are merged in BapDada’s eyes. When you only have BapDada in your eyes, you will not be able to see anything else. So remain constantly double light with this awareness: I am always a point. A point doesn’t have any burden. This form of consciousness will constantly enable you to continue to move forward. When you look at the centre of an eye, there is just a point (pupil). It is the pupil that sees. When that point is not there, then, even though you have an eye, you are unable to see. So, always keep this form in your awareness and experience the flying stage. BapDada is pleased to see the children’s fortune of the present and of the future. The present is the pen with which to create your future fortune. The way to make your present elevated is always to accept the signals from the seniors and to transform yourself. With this special virtue, your present and your future fortune become elevated.

2) A star of fortune is sparkling on each of your foreheads, is it not? Is it always sparkling? It doesn’t flicker sometimes, does it? Together with the Ever-Lit light, the Father, you have also become the stars that are ever-lit. Do you experience this? The wind doesn’t sometimes make the lamp or the star fluctuate, does it? Where there is remembrance of the Father, that star is eternally sparkling, it does not flicker. When a light flickers, it is switched off because no one likes it. So here too, constantly sparkling stars. You constantly take light from the Father, the Sun of Knowledge, and give light to others. You always have zeal and enthusiasm for doing service. All of you are elevated souls, the elevated souls of the elevated Father.

Success is easily achieved with the power of remembrance. To the extent that you have remembrance and service together, that balance of remembrance and service automatically enables you to receive blessings for constant success. Therefore, by creating an atmosphere of powerful remembrance, powerful souls are invoked and you achieve success. The lokik work is just for the sake of it, but true love is for the Father and service. Lokik work, too, is just for service; it is not done out of your own attachment, you do it according to directions, and this is why the Father’s hand of love is with such children. Constantly sing and dance in happiness; this is a means of doing service. When others see your happiness, they will become happy and this is the service that will take place. BapDada constantly tells you children: To the extent that you become great donors, to that extent your treasures will continue to increase. Become great donors and increase your treasures. Become great donors and donate a lot. This giving is in fact receiving. When you receive something good, you cannot stay without giving it to others.

Seeing your fortune, always be happy. You have received such great fortune! You found God while sitting at home! What greater fortune than this could there be ? Keep this fortune in your awareness and stay happy! Sorrow and peacelessness will then be finished for all time. You will become embodiments of happiness and embodiments of peace. Those whose fortune is created by God Himself are so elevated. So, constantly experience zeal and new enthusiasm in yourself and continue to move forward because every day of the confluence age is of new zeal and new enthusiasm.

Do not just be happy moving along as you are, but always have new zeal and new enthusiasm which constantly enables you to move forward. Every day is new. You definitely always need to have one type of newness or other in yourself and in service. The more zeal and enthusiasm you have in yourself, the more you will continue to have new touchings. When you are always busy with other things, you cannot receive new touchings. Churn and you will have new enthusiasm.

While giving love and remembrance to those who are in bondage:

The remembrance of those in bondage always reaches the Father and BapDada always tells those who are in bondage to make their yoga, that is, their love for remembrance like a fire. When the love becomes like a fire, everything gets burnt in the fire. Those bondages will then finish in the fire of love, you will also become a liberated soul and achieve success in whatever thoughts you have. You are loving and the remembrance of those who have love reaches Baba. In response of love, you receive love, but, let your remembrance now become like a powerful (strong) fire. The day will then come when you come here personally.

Blessing: May you be a spiritual rose, who always stays in a spiritual stage and also sees others as souls.
A spiritual rose is one who always has a spiritual fragrance. Wherever those with a spiritual fragrance look or whoever they look at, they will only see the soul, not the body. So, always stay in a spiritual stage yourself and see others as souls. Just as the Father is the Highest on High, so, His garden too is the highest on high and you children are the special decoration, the spiritual roses of that garden. Your spiritual fragrance will benefit many souls.
Slogan: When you make someone happy by breaking one of the codes of conduct, that will be accumulated in your account of sorrow.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 November 2019

03-11-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 02-03-85 मधुबन

वर्तमान ईश्वरीय जन्म-अमूल्य जन्म

आज रत्नागर बाप अपने अमूल्य रत्नों को देख रहे हैं। यह अलौकिक अमूल्य रत्नों की दरबार है। एक एक रत्न अमूल्य है। इस वर्तमान समय के विश्व की सारी प्रापर्टी वा विश्व के सारे खजाने इकट्ठे करो उसके अन्तर में एक एक ईश्वरीय रत्न कई गुणा अमूल्य है। आप एक रत्न के आगे विश्व के सारे खजाने कुछ भी नहीं है। इतने अमूल्य रत्न हो। यह अमूल्य रत्न सिवाए इस संगम-युग के सारे कल्प में नहीं मिल सकते। सतयुगी-देव-आत्मा का पार्ट इस संगमयुगी ईश्वरीय अमूल्य रत्न बनने के पार्ट के आगे सेकण्ड नम्बर हो जाता है। अभी तुम ईश्वरीय सन्तान हो, सतयुग में दैवी सन्तान होंगे। जैसे ईश्वर का सबसे श्रेष्ठ नाम है, महिमा है, जन्म है, कर्म है, वैसे ईश्वरीय रत्नों का वा ईश्वरीय सन्तान आत्माओं का मूल्य सर्वश्रेष्ठ है। इस श्रेष्ठ महिमा का वा श्रेष्ठ मूल्य का यादगार अभी भी 9 रत्नों के रूप में गाया और पूजा जाता है। 9 रत्नों को भिन्न-भिन्न विघ्न-विनाशक रत्न गाया जाता है। जैसा विघ्न वैसी विशेषता वाला रत्न रिंग बनाकर पहनते हैं वा लाकेट में डालते हैं वा किसी भी रूप से उस रत्न को घर में रखते हैं। अभी लास्ट जन्म तक भी विघ्न-विनाशक रूप में अपना यादगार देख रहे हो। नम्बरवार जरूर हैं लेकिन नम्बरवार होते हुए भी अमूल्य और विघ्न-विनाशक सभी हैं। आज भी श्रेष्ठ स्वरूप से आप रत्नों का आत्मायें स्वमान रखती हैं। बड़े प्यार से, स्वच्छता से सम्भालकर रखती हैं क्योंकि आप सभी जो भी हो चाहे अपने को इतना योग्य नहीं भी समझते हो लेकिन बाप ने आप आत्माओं को योग्य समझ अपना बनाया है। स्वीकार किया “तू मेरा मैं तेरा।” जिस आत्मा के ऊपर बाप की नज़र पड़ी, वह प्रभू नज़र के कारण अमूल्य बन ही जाते हैं। परमात्म दृष्टि के कारण ईश्वरीय सृष्टि के, ईश्वरीय संसार के श्रेष्ठ आत्मा बन ही जाते हैं। पारसनाथ से सम्बन्ध में आये तो पारस का रंग लग ही जाता है इसलिए परमात्म प्यार की दृष्टि मिलने से सारा कल्प चाहे चैतन्य देवताओं के रूप में, चाहे आधाकल्प जड़ चित्रों के रूप में वा भिन्न-भिन्न यादगार के रूप में जैसे रत्नों के रूप में भी आपका यादगार है, सितारों के रूप में भी आपका यादगार है। जिस भी रूप में यादगार है, सारा कल्प सर्व के प्यारे रहे हो क्योंकि अविनाशी प्यार के सागर के प्यार की नज़र सारे कल्प के लिए प्यार के अधिकारी बना देती है इसलिए भक्त लोग आधी घड़ी एक घड़ी की दृष्टि के लिए तड़पते हैं कि नज़र से निहाल हो जावें इसलिए इस समय के प्यार की नज़र अविनाशी प्यार के योग्य बना देती है। अविनाशी प्राप्ति स्वत: ही हो जाती है। प्यार से याद करते, प्यार से रखते। प्यार से देखते।

दूसरी बात – स्वच्छता अर्थात् पवित्रता। तुम इस समय बाप द्वारा पवित्रता का जन्म-सिद्ध अधिकार प्राप्त करते हो। पवित्रता वा स्वच्छता अपना स्वधर्म जानते हो – इसलिए पवित्रता को अपनाने के कारण जहाँ आपका यादगार होगा वहाँ पवित्रता वा स्वच्छता अभी भी यादगार रूप में चल रही है। और आधाकल्प तो है ही पवित्र पालना, पवित्र दुनिया। तो आधाकल्प पवित्रता से पैदा होते, पवित्रता से पलते और आधाकल्प पवित्रता से पूजे जाते हैं।

तीसरी बात – बहुत दिल से, श्रेष्ठ समझ, अमूल्य समझ सम्भालते हैं क्योंकि इस समय स्वयं भगवान् मात-पिता के रूप से आप बच्चों को सम्भालते हैं अर्थात् पालना करते हैं। तो अविनाशी पालना होने के कारण, अविनाशी स्नेह के साथ सम्भालने के कारण सारा कल्प बड़ी रॉयल्टी से, स्नेह से, रिगार्ड से सम्भाले जाते हो। ऐसे प्यार, स्वच्छता, पवित्रता और स्नेह से सम्भालने के अविनाशी पात्र बन जाते हो। तो समझा कितने अमूल्य हो? हर एक रत्न का कितना मूल्य है! तो आज रत्नागर बाप हर एक रत्न के मूल्य को देख रहे थे। सारे दुनिया की अक्षोणी आत्मायें एक तरफ हैं लेकिन आप 5 पाण्डव अक्षोणी से शक्तिशाली हो। अक्षोणी आपके आगे एक के बराबर भी नहीं हैं, इतने शक्तिशाली हो। तो कितने मूल्यवान हो गये! इतने मूल्य को जानते हो? कि कभी-कभी अपने आपको भूल जाते हो। जब अपने आपको भूलते हो तो हैरान होते हो। अपने आपको नहीं भूलो। सदा अपने को अमूल्य समझ करके चलो। लेकिन छोटी सी गलती नहीं करना। अमूल्य हो लेकिन बाप के साथ के कारण अमूल्य हो। बाप को भूलकर सिर्फ अपने को समझेंगे तो भी रांग हो जायेगा। बनाने वाले को नहीं भूलो। बन गये लेकिन बनाने वाले के साथ बने हैं, यह है समझने की विधि। अगर विधि को भूल जाते तो समझ, बेसमझ के रूप में बदल जाती। फिर मैं-पन आ जाता है। विधि को भूलने से सिद्धि का अनुभव नहीं होता, इसलिए विधि पूर्वक अपने को मूल्यवान जान विश्व के पूर्वज बन जाओ। हैरान भी नहीं हो कि मैं तो कुछ नहीं। न यह सोचो कि मैं कुछ नहीं, न यह समझो कि मैं ही सब कुछ हूँ। दोनों ही रांग हैं। मैं हूँ लेकिन बनाने वाले ने बनाया है। बाप को निकाल देते हो तो पाप हो जाता है। बाप है तो पाप नहीं है। जहाँ बाप का नाम है वहाँ पाप का नाम निशान नहीं। और जहाँ पाप है वहाँ बाप का नामनिशान नहीं है। तो समझा अपने मूल्य को।

भगवान की दृष्टि के पात्र बने हो, साधारण बात नहीं। पालना के पात्र बने हो। अविनाशी पवित्रता के जन्म-सिद्ध के अधिकार के अधिकारी बने हो, इसलिए जन्म सिद्ध अधिकार कभी मुश्किल नहीं होता है। सहज प्राप्त होता है। ऐसे ही स्वयं अनुभवी हो कि जो अधिकारी बच्चे हैं उन्हों को पवित्रता मुश्किल नहीं लगती। जिन्हों को पवित्रता मुश्किल लगती वह डगमग ज्यादा होते हैं। पवित्रता स्वधर्म है, जन्म सिद्ध अधिकार है तो सदा सहज लगेगा। दुनिया वाले भी दूर भागते हैं वह किसलिए? पवित्रता मुश्किल लगती है। जो अधिकारी आत्मायें नहीं उन्हों को मुश्किल ही लगेगा। अधिकारी आत्मा आते ही दृढ़ संकल्प करती कि पवित्रता बाप का अधिकार है, इसलिए पवित्र बनना ही है। दिल को पवित्रता सदा आकर्षित करती रहेगी। अगर चलते-चलते कहाँ माया परीक्षा लेने आती भी है, संकल्प के रूप में, स्वप्न के रूप में तो अधिकारी आत्मा नॉलेजफुल होने के कारण घबरायेगी नहीं। लेकिन नॉलेज की शक्ति से संकल्प को परिवर्तित कर देगी। एक संकल्प के पीछे अनेक संकल्प पैदा नहीं करेगी। अंश को वंश के रूप में नहीं लायेगी। क्या हुआ, यह हुआ…यह है वंश। सुनाया था ना क्यों से क्यू लगा देते हैं। यह वंश पैदा कर देते हैं। आया और सदा के लिए गया। पेपर लेने के लिए आया, पास हो गये समाप्त। माया क्यों आई, कहाँ से आई। यहाँ से आई वहाँ से आई। आनी नहीं चाहिए थी। क्यों आ गई। यह वंश नहीं होना चाहिए। अच्छा आ भी गई तो आप बिठाओ नहीं। भगाओ! आई क्यों…ऐसा सोचेंगे तो बैठ जायेगी। आई आगे बढ़ाने के लिए, पेपर लेने के लिए। क्लास को आगे बढ़ाने के लिए अनुभवी बनाने के लिए आई! क्यों आई, ऐसे आई, वैसे आई यह नहीं सोचो। फिर सोचते हैं क्या माया का ऐसा रूप होता है। लाल है, हरा है, पीला है। इस विस्तार में चले जाते हैं। इसमें नहीं जाओ। घबराते क्यों हो, पार कर लो। पास विथ आनर बन जाओ। नॉलेज की शक्ति है, शस्त्र है। मास्टर सर्वशक्तिवान हो, त्रिकालदर्शी हो, त्रिवेणी हो। क्या कमी है! जल्दी में घबराओ नहीं। चींटी भी आ जाती तो घबरा जाते हैं। ज्यादा सोचते हो। सोचना अर्थात् माया को मेहमानी देना। फिर वह घर बना देगी। जैसे रास्ते चलते कोई गन्दी चीज दिखाई भी दे तो क्या करेंगे! खड़े होकर सोचेंगे कि यह किसने फेंकी, क्यों-क्या हुआ! होनी नहीं चाहिए, यह सोचेंगे वा किनारा कर चले जायेंगे। ज्यादा व्यर्थ संकल्पों के वंश को पैदा होने न दो। अंश के रूप में ही समाप्त कर दो। पहले सेकण्ड की बात होती है फिर उसको घण्टों में, दिनों में, मास में बढ़ा देते हो। और अगर एक मास के बाद पूछेंगे कि क्या हुआ था तो बात सेकण्ड की होगी, इसलिए घबराओ नहीं। गहराई में जाओ-ज्ञान की गहराई में जाओ, बात की गहराई में नहीं जाओ। बापदादा इतने श्रेष्ठ मूल्यवान रत्नों को छोटे-छोटे मिट्टी के कणों से खेलते हुए देखते तो सोचते हैं यह रत्न, रत्नों से खेलने वाले मिट्टी के कणों से खेल रहे हैं! रत्न हो रत्नों से खेलो!

बापदादा ने कितने लाडप्यार से पाला है फिर मिट्टी के कण कैसे देख सकेंगे। फिर मैले होकर कहते-अभी साफ करो, साफ करो। घबरा भी जाते हैं। अभी क्या करूँ कैसे करूँ। मिट्टी से खेलते ही क्यों हो। वह भी कण जो धरनी में पड़े रहने वाले। तो सदा अपने मूल्य को जानो। अच्छा!

ऐसे सारे कल्प के मूल्यवान आत्माओं को, प्रभू प्यार की पात्र आत्माओं को, प्रभू पालना की पात्र आत्माओं को, पवित्रता के जन्म-सिद्ध अधिकार के अधिकारी आत्माओं को, सदा बाप और मैं इस विधि से सिद्धि को पाने वाली आत्माओं को, सदा अमूल्य रत्न बन रत्नों से खेलने वाले रॉयल बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते!

पार्टियों से

1- सदा बाप के नयनों में समाई हुई आत्मा स्वयं को अनुभव करते हो? नयनों में कौन समाता है? जो बहुत हल्का बिन्दू है। तो सदा है ही बिन्दू और बिन्दू बन बाप के नयनों में समाने वाले। बापदादा आपके नयनों में समाये हुए हैं और आप सब बापदादा के नयनों में समाये हुए हो। जब नयनों में है ही बापदादा तो और कुछ दिखाई नहीं देगा। तो सदा इस स्मृति से डबल लाइट रहो कि मैं हूँ ही बिन्दू। बिन्दू में कोई बोझ नहीं। यह स्मृति स्वरूप सदा आगे बढ़ाती रहेगी। आंखों में बीच में देखो तो बिन्दू ही है। बिन्दु ही देखता है। बिन्दू न हो तो आंख होते भी देख नहीं सकते। तो सदा इसी स्वरूप को स्मृति में रख उड़ती कला का अनुभव करो। बापदादा बच्चों के वर्तमान और भविष्य के भाग्य को देख हर्षित हैं, वर्तमान कलम है भविष्य के तकदीर बनाने की। वर्तमान को श्रेष्ठ बनाने का साधन है-बड़ों के ईशारों को सदा स्वीकार करते हुए स्वयं को परिवर्तन कर लेना। इसी विशेष गुण से वर्तमान और भविष्य तकदीर श्रेष्ठ बन जाती है।

2- सभी के मस्तक पर भाग्य का सितारा चमक रहा है ना! सदा चमकता है? कभी टिमटिमाता तो नहीं है? अखण्ड ज्योति बाप के साथ आप भी अखण्ड ज्योति सदा जगने वाले सितारे बन गये। ऐसे अनुभव करते हो। कभी वायु हिलाती तो नहीं है दीपक वा सितारे को? जहाँ बाप की याद है वह अविनाशी जगमगाता हुआ सितारा है। टिमटिमाता हुआ नहीं। लाइट भी जब टिमटिम करती है तो बन्द कर देते हैं, किसी को अच्छी नहीं लगती। तो यह भी सदा जगमगाता हुआ सितारा। सदा ज्ञान सूर्य बाप से रोशनी ले औरों को भी रोशनी देने वाले। सेवा का उमंग-उत्साह कायम रहता है। सभी श्रेष्ठ आत्मायें हो, श्रेष्ठ बाप की श्रेष्ठ आत्मायें हो।

याद की शक्ति से सफलता सहज प्राप्त होती है। जितना याद और सेवा साथ-साथ रहती है तो याद और सेवा का बैलेन्स सदा की सफलता की आशीर्वाद स्वत: प्राप्त कराता है, इसलिए सदा शक्तिशाली याद स्वरूप का वातावरण बनने से शक्तिशाली आत्माओं का आह्वान होता है और सफलता मिलती है। निमित्त लौकिक कार्य है लेकिन लगन बाप और सेवा में है। लौकिक भी सेवा प्रति है, अपने लगाव से नहीं करते, डायरेक्शन प्रमाण करते हैं, इसलिए बाप के स्नेह का हाथ ऐसे बच्चों के साथ है। सदा खुशी में गाओ, नाचो यही सेवा का साधन है। आपकी खुशी को देख दूसरे खुश हो जायेंगे तो यही सेवा हो जायेगी। बापदादा बच्चों को सदा कहते हैं – जितना महादानी बनेंगे उतना खजाना बढ़ता जायेगा। महादानी बनो और खजानों को बढ़ाओ। महादानी बन खूब दान करो। यह देना ही लेना है। जो अच्छी चीज़ मिलती है वह देने के बिना रह नहीं सकते।

सदा अपने भाग्य को देख हर्षित रहो। कितना बड़ा भाग्य मिला है, घर बैठे भगवान मिल जाए इससे बड़ा भाग्य और क्या होगा! इसी भाग्य को स्मृति में रख हर्षित रहो। तो दु:ख और अशान्ति सदा के लिए समाप्त हो जायेंगे। सुख स्वरूप, शान्त स्वरूप बन जायेंगे। जिसका भाग्य स्वयं भगवान बनाये वह कितने श्रेष्ठ हुए। तो सदा अपने में नया उमंग, नया उत्साह अनुभव करते आगे बढ़ते चलो क्योंकि संगमयुग पर हर दिन का नया उमंग, नया उत्साह है।

जैसे चल रहे हैं, नहीं। सदा नया उमंग, नया उत्साह सदा आगे बढ़ाता है। हर दिन ही नया है। सदा स्वयं में वा सेवा में कोई न कोई नवीनता जरूर चाहिए। जितना अपने को उमंग-उत्साह में रखेंगे उतना नई-नई टचिंग होती रहेगी। स्वयं किसी दूसरी बातों में बिजी रहते तो नई टचिंग भी नहीं होती। मनन करो तो नया उमंग रहेगा।

बांधेलियों को यादप्यार देते हुए:- बांधेलियों की याद तो सदा बाप के पास पहुंचती है और बापदादा सभी बांधेलियों को यही कहते हैं कि योग अर्थात याद की लगन को अग्नि रूप बनाओ। जब लगन अग्नि रूप बन जाती तो अग्नि में सब भस्म हो जाता। तो यह बन्धन भी लगन की अग्नि में समाप्त हो जायेंगे और स्वतंत्र आत्मा बन जो संकल्प करते उसकी सिद्धि को प्राप्त करेंगी। स्नेही हो, स्नेह की याद पहुंचती है। स्नेह के रेसपान्स में स्नेह मिलता है। लेकिन अभी याद को शक्तिशाली अग्नि रूप बनाओ। फिर वह दिन आ जायेगा जो सम्मुख पहुंच जायेंगी।

वरदान:- सदा रूहानी स्थिति में रह दूसरों की भी रूह को देखने वाले रूहानी रूहे गुलाब भव
रूहे गुलाब अर्थात् जिसमें सदा रूहानी खुशबू हो। रूहानी खुशबू वाले जहाँ भी देखेंगे, जिसको भी देखेंगे तो रूह को देखेंगे, शरीर को नहीं। तो स्वयं भी सदा रूहानी स्थिति में रहो और दूसरों की भी रूह को देखो। जैसे बाप ऊंचे से ऊंचा है, ऐसे उसका बगीचा भी ऊंचे से ऊंचा है, जिस बगीचे का विशेष श्रृंगार रूहे गुलाब आप बच्चे हो। आपकी रूहानी खुशबू अनेक आत्माओं का कल्याण करने वाली है।
स्लोगन:- मर्यादा तोड़कर किसी को सुख दिया तो वह भी दु:ख के खाते में जमा हो जायेगा।

TODAY MURLI 3 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 November 2018 :- Click Here

03/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only the one Father is the Blissful One who gives blessings to all. The Father alone is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. No one apart from Him can remove your sorrow.
Question: There is the system of adoption on both the path of devotion and the path of knowledge, but what is the difference?
Answer: On the path of devotion when someone is adopted, there is the relationship of guru and disciple. When a sannyasi is adopted, he will call himself a follower whereas on the path of knowledge, you are not followers or disciples. You have become children of the Father. To become a child means to have a right to the inheritance.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. You children heard the song. This praise is of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. They say: Salutations to Shiva. They do not say: Salutations to Rudra or Salutations to Somnath. They say: Salutations to Shiva and He is the One who is praised a lot. “Salutations to Shiva” means to the Father. The name of God, the Father , is Shiva. He is incorporeal. Who said: “O God, the Father  ? The soul said it. When a soul simply says, “O father !  that refers to a physical father. The expression “O God, the Father” refers to the spiritual Father. These matters have to be understood. Deities are called those with divine intellects. The deities were the masters of the world. Now no one is a master. No one is the Lord or Master of Bharat. A king is called the father or the bestower of food (The Provider). There are now no kings. So, who said: Salutations to Shiva? How can you tell that that One is the Father? There are so many Brahma Kumars and Kumaris. They become the grandchildren of Shiv Baba. He adopts them through Brahma. They all say: We are Brahma Kumars and Kumaris. Achcha, whose child is Brahma? Shiva’s. Brahma, Vishnu and Shankar, all three, are children of Shiva. Shiv Baba is God, the Highest on High, the One who resides in the incorporeal world. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. OK, so how was the human world created? He says: According to the drama, I enter the ordinary body of Brahma and make him the Father of People (Prajapita). I have to enter the one who is given the name Brahma. His name changes after he has been adopted. Even sannyasis have their names changed. They first take birth to householders and then, according to their sanskars, they read the scriptures etc. in their childhood, and then they have disinterest. They then go to a sannyasi and are adopted there. They would say: This one is my guru. They would not call him father. They become disciples or followers of the guru. The guru adopts the disciple and says: You are my disciple or my follower. This Father says: You are My children. You souls have been calling out to the Father on the path of devotion because there is a lot of sorrow here; there is a lot of crying out in distress. The Purifier Father is only the One. Souls salute incorporeal Shiva. The Father always exists. It is to God , the Father , that they sing: You are the Mother and You are the Father. Since there is the Father, the M other is also definitely needed. There cannot be creation without the M other and Father. The Father definitely has to come to the children. To know how the world cycle repeats and to know its beginning, middle and end is to become trikaldarshi. There are millions of actors and each one’s part is his own. This drama is unlimited. The Father says: I am the Creator, Director and p rincipal Actor. I am acting, am I not? My soul is called the Supreme. The form of a soul and the form of the Supreme Soul are the same. In fact, a soul is just a point. The soul, the star, resides in the centre of the forehead. It is extremely subtle; it cannot be seen. A soul is subtle and the Father of souls is also subtle. The Father explains: You souls are like points. I, Shiva, am also like a point. However, I am the Supreme Creator and Director. I am the Ocean of Knowledge. I have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. I am k nowledge -full and b lissful. I give blessings to everyone. I take everyone into salvation. Only the one Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. No one is unhappy in the golden age. It is the kingdom of only Lakshmi and Narayan. The Father explains: I am the Seed of the human world tree. For instance, there is a mango tree that has a non-living seed, so that would not speak. If it were living, it would say: The branches, twigs, leaves etc. emerge from me, the seed. This One is living and this is called the kalpa tree. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Seed of the human world tree. The Father says: I Myself come and explain the knowledge of it to everyone. I make you children constantly happy. It is Maya that makes you unhappy. The path of devotion has to end. The drama definitely has to turn. This is the historyand geography of the unlimited world. The cycle continues to turn. The iron age has to change into the golden age. There is just the one world. God, the Father, is One. He has no f ather. He is also the Teacher and is teaching you. God speaks: I teach you Raja Yoga. People don’t know the Mother and Father. You children know that you are the incorporeal children of incorporeal Shiv Baba. You are then also the children of corporeal Brahma. All the incorporeal children are brothers and all the children of Brahma are brothers and sisters. This is the way to remain pure. How can brothers and sisters indulge in vice? It is vice that starts a fire, is it not? It is said: The fire of lust. The Father shows you the way to remain safe from that. Firstly, the attainment here is very high. If we follow the Father’s shrimat, we will receive the inheritance from the unlimited Father. Only by having remembrance do we become ever healthy . The yoga of ancient Bharat is very well known. The Father says: By continually remembering Me, you will become pure and your sins will be absolved. If you shed your body in remembrance of the Father, you will come to Me. This old world is to end. This is the same Mahabharat War. There will be victory for those who belong to the Father. A kingdom is being established. God is teaching Raja Yoga for you to become the masters of heaven. Then, Maya, Ravan, makes you into the masters of hell. It is as though you receive that curse. The Father says: Beloved children, may you become residents of heaven by following My direction! Then, when the kingdom of Ravan begins, Ravan says: O children of God, may you become residents of hell! Heaven definitely has to come after hell. This is hell, is it not? There is so much violence everywhere. There is no fighting or quarrelling in the golden age. Bharat itself was heaven; there were no other kingdoms. Now that Bharat is hell, there are innumerable religions. It is remembered that I have to come to destroy the many religions and establish the one religion. I only incarnate once. The Father has to come into the impure world. He comes when the old world has to end. War is also needed for that. The Father says: Sweet children, you came bodiless and you have now completed your part of 84 births. You now have to return home. I make you pure from impure and take you back home. In 5000 years deities take 84 births. There is an account. Not everyone will take 84 births. The Father says: Remember Me and claim your inheritance. The world cycle should spin in your intellects. We are actors. While being an actor, if you do not know the CreatorDirector and principal Actor of the drama, you are senseless. Bharat has become so poverty-stricken through this. The Father comes and makes it solvent. The Father explains: You people of Bharat were in heaven and you definitely had to take 84 births. Your 84 births have now ended. Just this last birth now remains. God speaks: The God of everyone is One. None of those of all the other religions would accept Krishna as God. They would only accept the incorporeal One. He is the Father of all souls. He says: I come at the end of the many births of this one and enter him. When the kingdom has been established, destruction begins and I go back home. This is a very great sacrificial fire. All the other sacrificial fires are to be sacrificed into this one. The rubbish of the whole world falls into this one and then no other sacrificial fires are created. The path of devotion comes to an end. After the golden and silver ages devotion then begins. Devotion is now coming to an end. So all of this is the praise of Shiv Baba. They have given Him so many names, and yet they don’t know anything. This One is Shiva and then He is also called Rudra, Somnath and Babulnath (one who changes thorns into flowers). They have given many names to the One. He has been given a name according to the service He did. He is giving you nectar to drink. You mothers have become instruments to open the gates of heaven. It is those who are pure who are praised. Impure ones praise the pure ones. Everyone bows their head to kumaris. You Brahma Kumars and Kumaris are uplifting Bharat. You have to become pure and claim your inheritance of the pure world from the Father. While living at home with your family, you have to remain pure. This requires effort. Lust is the greatest enemy. When they can’t stay without vice, they begin to beat them. Innocent ones are assaulted in the sacrificial fire of Rudra. When the urn of sin of those who assault the innocent ones becomes full, destruction takes place. There are many daughters who have never seen Baba and they write: Baba, I know You. I will definitely become pure in order to claim my inheritance from You. The Father explains: You have been studying the scriptures and going on the physical pilgrimages of the path of devotion. You now have to return home. Therefore, have yoga with Me. Break away from everyone else and connect yourself to Me alone and I will take you back with Me and then send you to heaven. That is the land of peace. Souls don’t speak there. The golden age is the land of happiness and this is the land of sorrow. Now, while living in this land of sorrow, you have to remember the land of peace and the land of happiness and you will then go to heaven. You have taken 84 births. The cycle of the clans continues to turn. First is the topknot of Brahmins, then the deity clan and then the warrior clan. You play a game of somersaulting. We will now become deities from Brahmins. This cycle continues to turn. By knowing it, you become rulers of the globe. You need the unlimited inheritance from the unlimited Father. Therefore, you definitely have to follow the Father’s directions. You explain that the incorporeal Supreme Soul has come and entered this corporeal body. When we souls are incorporeal we reside there. This sun and moon are the lights. This is called the unlimited day and night. The golden and silver ages are the day and the copper and iron ages are the night. The Father comes and shows you the path to salvation. You receive such a good explanation. There is happiness in the golden age and then that continues to decrease little by little. In the golden age it is 16 celestial degrees, and then 14 in the silver age. All of these matters have to be understood. Untimely death never takes place there. There is nothing to cry or fight about there. Everything depends on the study. It is only through this study that you can change from human beings into deities. God is teaching us to make us into gods and goddesses. Those studies are worth only a few pennies. This study is worth diamonds. It is just a matter of becoming pure in this final birth. This Raja Yoga is the easiest of all. To study to become a barrister etc. is not as easy. Here, by remembering the Father and the cycle you become rulers of the globe. If you don’t know the Father, you don’t know anything. The Father Himself doesn’t become the Master of the world. He makes you children that. Shiv Baba says: This Brahma will become the emperor. I do not become that. I sit in the land of nirvana. I make you children into the masters of the world. Only the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, can do true altruistic service; human beings cannot do that. By finding God, you become the masters of the whole world. You become the masters of the earth and the sky etc. The deities were the masters of the world, were they not? There are now so many partitions. The Father now says: I make you into the masters of the world. Only you existed in heaven. Bharat was the master of the world. It has now become poverty-stricken. Bharat once again becomes the master of the world through you mothers. The majority are mothers and this is why it is said: Salutations to the mothers. There is a short time remaining and there is no guarantee for the body; everyone has to die. It is now the stage of retirement for everyone. Everyone has to return home. God is teaching us this. He is called k nowledge -full, p eaceful and b lissful. He is the One who makes us full of all virtues, sixteen celestial degrees fully pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning, numberwise according to the effort you make, from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This study makes you become like a diamond. Therefore, study well, break away from everyone else and connect yourself to the one Father alone.
  2. Follow shrimat and claim your full inheritance of heaven. While walking and moving along, continue to spin the discus of self-realisation.
Blessing: May you become filled with all attainments and experience the Lord to be present by saying, “Yes my Lord”, according to shrimat.
The Father becomes present in front of the children every time they say “Yes, my Lord, yes my Lord”, to everything, according to the Father’s shrimat. When the Lord becomes present, there will be nothing lacking in any situation and you will become constantly full. The star of fortune of the attainment of both the Bestower and the Bestower of Fortune will begin to sparkle on your forehead.
Slogan: Be one who has a right to God’s inheritance and there will not be any dependency.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 November 2018

To Read Murli 2 November 2018 :- Click Here
03-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सर्व पर ब्लैसिंग करने वाला ब्लिसफुल एक बाप है, बाप को ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहा जाता है, उनके सिवाए कोई भी दु:ख नहीं हर सकता”
प्रश्नः- भक्ति मार्ग और ज्ञान मार्ग दोनों में एडाप्ट होने की रस्म है लेकिन अन्तर क्या है?
उत्तर:- भक्ति मार्ग में जब किसी के पास एडाप्ट होते हैं तो गुरू और चेले का सम्बन्ध रहता है, सन्यासी भी एडाप्ट होंगे तो अपने को फालोअर कहलायेंगे, लेकिन ज्ञान मार्ग में तुम फालोअर या चेले नहीं हो। तुम बाप के बच्चे बने हो। बच्चा बनना अर्थात् वर्से का अधिकारी बनना।
गीत:- ओम नमो शिवाए ……. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। यह है परमपिता परमात्मा शिव की महिमा। कहते भी हैं शिवाए नम:। रुद्राय नम: वा सोमनाथ नम: नहीं कहते हैं। शिवाए नम: कहते हैं और बहुत स्तुति भी उनकी होती है। अब शिवाए नम: हुआ बाप। गॉड फादर का नाम हुआ शिव। वह है निराकार। यह किसने कहा – ओ गॉड फादर? आत्मा ने। सिर्फ ‘ओ फादर’ कहते हैं तो वह जिस्मानी फादर हो जाता है। ‘ओ गॉड फादर’ कहने से रूहानी फादर हो जाता है। यह समझने की बातें हैं। देवताओं को पारसबुद्धि कहा जाता है। देवतायें तो विश्व के मालिक थे। अभी कोई मालिक हैं नहीं। भारत का धनी-धोणी कोई है नहीं। राजा को भी पिता, अन्नदाता कहा जाता है। अभी तो राजायें हैं नहीं। तो यह शिवाए नम: किसने कहा? कैसे पता पड़े कि यह बाप है? ब्रह्माकुमार-कुमारियां तो ढेर हैं। यह ठहरे शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियां। ब्रह्मा द्वारा इनको एडाप्ट करते हैं। सब कहते हैं हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। अच्छा, ब्रह्मा किसका बच्चा? शिव का। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तीनों ही शिव के बच्चे हैं। शिवबाबा है ऊंच ते ऊंच भगवान्, निराकारी वतन में रहने वाला। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। अच्छा, मनुष्य सृष्टि कैसे रची? तो कहते हैं ड्रामा अनुसार मैं ब्रह्मा के साधारण तन में प्रवेश कर इनको प्रजापिता बनाता हूँ। मुझे प्रवेश ही इनमें करना है जिसको ब्रह्मा नाम दिया है। एडाप्ट करने बाद नाम बदल जाता है। सन्यासी भी नाम बदलते हैं। पहले गृहस्थियों के पास जन्म लेते हैं फिर संस्कार अनुसार छोटेपन में ही शास्त्र आदि पढ़ते हैं फिर वैराग्य आता है। सन्यासियों पास जाकर एडाप्ट होते हैं, कहेंगे यह मेरा गुरू है। उनको बाप नहीं कहेंगे। चेले वा फालोअर्स बनते हैं गुरू के। गुरू चेले को एडाप्ट करते हैं कि तुम हमारे चेले वा फालोअर हो। यह बाप कहते हैं कि तुम हमारे बच्चे हो। तुम आत्मा बाप को भक्ति मार्ग में बुलाती आई हो, क्योंकि यहाँ दु:ख बहुत है, त्राहि-त्राहि हो रही है। पतित-पावन बाप तो एक ही है। निराकार शिव को आत्मा नम: करती है। तो बाप तो है ही। ‘तुम मात-पिता’ यह भी गॉड फादर के लिए ही गाते हैं। फादर है तो मदर भी जरूर चाहिए। मदर-फादर बिगर रचना होती नहीं। बाप को बच्चों के पास आना ही है। यह सृष्टि चक्र कैसे रिपीट होता है, इसके आदि, मध्य, अन्त को जानना – इसको कहा जाता है त्रिकालदर्शी बनना। इतने सब करोड़ों एक्टर्स हैं, हर एक का पार्ट अपना है। यह बेहद का ड्रामा है। बाप कहते हैं मैं क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रिन्सीपल एक्टर हूँ। एक्ट कर रहा हूँ ना। मेरी आत्मा को सुप्रीम कहते हैं। आत्मा और परमात्मा का रूप एक ही है। वास्तव में आत्मा है ही बिन्दी। भृकुटी के बीच में आत्मा स्टॉर रहता है ना। बिल्कुल सूक्ष्म है। उनको देख नहीं सकते हैं। आत्मा भी सूक्ष्म है तो आत्मा का बाप भी सूक्ष्म है। बाप समझाते हैं तुम आत्मा बिन्दी समान हो। मैं शिव भी बिन्दी समान हूँ। परन्तु मैं सुप्रीम, क्रियेटर, डायरेक्टर हूँ। ज्ञान सागर हूँ। मेरे में सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान है। मैं नॉलेजफुल, ब्लिसफुल हूँ, सब पर ब्लैसिंग करता हूँ। सबको सद्गति में ले जाता हूँ। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता एक ही बाप है। सतयुग में दु:खी कोई होता ही नहीं। लक्ष्मी-नारायण का ही राज्य है।

बाप समझाते हैं मैं इस सृष्टि रूपी झाड़ का बीजरूप हूँ। समझो, आम का झाड़ है, वह तो है जड़ बीज, वह बोलेगा नहीं। अगर चैतन्य होता तो बोलता कि मुझ बीज से ऐसे टाल-टालियां, पत्ते आदि निकलते हैं। अब यह है चैतन्य, इसको कल्प वृक्ष कहा जाता है। मनुष्य सृष्टि झाड़ का बीज परमपिता परमात्मा है। बाप कहते हैं मैं ही आकर इसका नॉलेज समझाता हूँ, बच्चों को सदा सुखी बनाता हूँ। दु:खी बनाती है माया। भक्ति मार्ग को पूरा होना है। ड्रामा को फिरना जरूर है। यह है बेहद वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी। चक्र फिरता रहता है। कलियुग बदल फिर सतयुग होना है। सृष्टि तो एक ही है। गॉड फादर इज़ वन। इनका कोई फादर नहीं। वही टीचर भी है, पढ़ा रहे हैं। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। मनुष्य तो मात-पिता को जानते नहीं। तुम बच्चे जानते हो निराकार शिवबाबा के हम निराकारी बच्चे हैं। फिर साकारी ब्रह्मा के भी बच्चे हैं। निराकार बच्चे सब भाई-भाई हैं और ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हैं। यह है पवित्र रहने की युक्ति। बहन-भाई विकार में कैसे जायेंगे। विकार की ही आग लगती है ना। काम अग्नि कहा जाता है, उससे बचने की युक्ति बाप बतलाते हैं। एक तो प्राप्ति बहुत ऊंच है। अगर हम बाप की श्रीमत पर चलेंगे तो बेहद के बाप का वर्सा पायेंगे। याद से ही एवरहेल्दी बनते हैं। प्राचीन भारत का योग मशहूर है। बाप कहते हैं मुझे याद करते-करते तुम पवित्र बन जायेंगे, पाप भस्म हो जायेंगे। बाप की याद में शरीर छोड़ेंगे तो मेरे पास चले आयेंगे। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। जो बाप के बने हैं उनकी ही विजय होनी है। यह राजधानी स्थापन हो रही है। भगवान् राजयोग सिखलाते हैं स्वर्ग का मालिक बनाने लिए। फिर माया रावण नर्क का मालिक बनाती है। वह जैसे श्राप मिलता है।

बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, मेरी मत पर तुम स्वर्गवासी भव। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो रावण कहता है – हे ईश्वर के बच्चे, नर्कवासी भव। नर्क के बाद फिर स्वर्ग जरूर आना है। यह नर्क है ना। कितनी मारामारी लगी पड़ी है। सतयुग में लड़ाई-झगड़ा होता नहीं। भारत ही स्वर्ग था, और कोई राज्य था ही नहीं। अभी भारत नर्क है, अनेक धर्म हैं। गाया जाता है अनेक धर्म का विनाश, एक धर्म की स्थापना करने मुझे आना पड़ता है। मैं एक ही बार अवतार लेता हूँ। बाप को आना है पतित दुनिया में। आते ही तब हैं जब पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। उसके लिए लड़ाई भी चाहिए।

बाप कहते हैं – मीठे बच्चे, तुम अशरीरी आये थे, 84 जन्मों का पार्ट पूरा किया, अब वापस चलना है। मैं तुम्हें पतित से पावन बनाकर वापस ले जाता हूँ। हिसाब तो है ना। 5 हजार वर्ष में देवतायें 84 जन्म लेते हैं। सब तो 84 जन्म नहीं लेंगे। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो और वर्सा लो। सृष्टि का चक्र बुद्धि में फिरना चाहिए। हम एक्टर्स हैं ना। एक्टर होकर ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर को न जानें तो वह बेसमझ ठहरे। इससे भारत कितना कंगाल बन गया है। फिर बाप आकर सालवेन्ट बना देते हैं। बाप समझाते हैं तुम भारतवासी स्वर्ग में थे फिर तुमको 84 जन्म तो जरूर लेने पड़े। अभी तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। यह पिछाड़ी का जन्म बाकी है। भगवानुवाच, भगवान् तो सबका एक है। कृष्ण को और सब धर्म वाले भगवान् नहीं मानेंगे। निराकार को ही मानेंगे। वह सब आत्माओं का बाप है। कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में आकर इनमें प्रवेश करता हूँ। राजाई स्थापन हो जायेगी फिर विनाश शुरू होगा और मैं चला जाऊंगा। यह है बड़ा भारी यज्ञ और जो भी यज्ञ आदि हैं सब इसमें स्वाहा हो जाने हैं। सारी दुनिया का किचड़ा इनमें पड़ जाता है फिर कोई यज्ञ रचा नहीं जाता। भक्ति मार्ग खलास हो जाता है। सतयुग-त्रेता के बाद फिर भक्ति शुरू होती है। अब भक्ति पूरी होती है। तो यह महिमा सारी शिवबाबा की है। इनके इतने नाम दिये हैं, जानते तो कुछ नहीं। यह तो शिव है फिर रूद्र, सोमनाथ, बाबुरीनाथ भी कहते हैं। एक के अनेक नाम रख दिये हैं। जैसे-जैसे सर्विस की है वैसा नाम पड़ा है। तुमको सोमरस पिला रहे हैं। तुम मातायें स्वर्ग का द्वार खोलने के निमित्त बनी हो। वन्दना पवित्र की ही होती है। अपवित्र, पवित्र की वन्दना करते हैं। कन्या को सब माथा टेकते हैं। यह ब्रह्माकुमार-कुमारियां इस भारत का उद्धार कर रहे हैं। पवित्र बन बाप से पवित्र दुनिया का वर्सा लेना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनना है, इसमें मेहनत है। काम महाशत्रु है। काम बिगर रह नहीं सकते तो मारने लगते हैं। रूद्र यज्ञ में अबलाओं पर अत्याचार होते हैं। मार खा-खा कर आखरीन उन्हों के पाप का घड़ा भरता है तब फिर विनाश हो जाता है। बहुत बच्चियां हैं, कभी देखा नहीं है, लिखती हैं बाबा हम आपको जानते हैं। आपसे वर्सा लेने लिए पवित्र जरूर बनूंगी। बाप समझाते हैं शास्त्र पढ़ना, तीर्थ आदि करना – यह सब भक्ति मार्ग की जिस्मानी यात्रा तो करते आये हो, अब तुमको वापिस चलना है इसलिए मेरे से योग लगाओ। और संग तोड़ एक मुझ साथ जोड़ो तो तुमको साथ ले जाऊंगा फिर स्वर्ग में भेज दूंगा। वह है शान्तिधाम। वहाँ आत्मायें कुछ बोलती नहीं। सतयुग है सुखधाम, यह है दु:खधाम। अभी इस दु:खधाम में रहते शान्तिधाम-सुखधाम को याद करना है तो फिर तुम स्वर्ग में आ जायेंगे। तुमने 84 जन्म लिए हैं। वर्ण फिरते जाते हैं। पहले है ब्राह्मणों की चोटी फिर देवता वर्ण, क्षत्रिय वर्ण बाजोली खेलते हैं ना। फिर अभी हम ब्राह्मण से देवता बनेंगे। यह चक्र फिरता रहता है, इनको जानने से चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा चाहिए। तो जरूर बाप की मत पर चलना पड़े। तुम समझाते हो निराकार परम आत्मा ने आकर इस साकार शरीर में प्रवेश किया है। हम आत्मायें जब निराकारी हैं तो वहाँ रहती हैं। यह सूर्य-चांद बत्तियां हैं। इसे बेहद का दिन और रात कहा जाता है। सतयुग त्रेता दिन, द्वापर कलियुग रात। बाप आकर सद्गति मार्ग बताते हैं। कितनी अच्छी समझानी मिलती है। सतयुग में होता है सुख, फिर थोड़ा-थोड़ा कम होता जाता है। सतयुग में 16 कला, त्रेता में 14 कला…….. यह सब समझने की बातें हैं। वहाँ कभी अकाले मृत्यु नहीं होती। रोने, लड़ने-झगड़ने की बात नहीं, है सारा पढ़ाई पर मदार। पढ़ाई से ही मनुष्य से देवता बनना है। भगवान् पढ़ाते हैं भगवान् भगवती बनाने के लिए। वह तो पाई-पैसे की पढ़ाई है। यह पढ़ाई है हीरे जैसी। सिर्फ इस अन्तिम जन्म में पवित्र बनने की बात है। यह है सहज ते सहज राजयोग। बैरिस्टरी आदि पढ़ना – वह कोई इतना सहज नहीं। यहाँ तो बाप और चक्र को याद करने से चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे। बाप को नहीं जाना गोया कुछ नहीं जाना। बाप खुद विश्व का मालिक नहीं बनते, बच्चों को बनाते हैं। शिवबाबा कहते हैं यह (ब्रह्मा) महाराजा बनेंगे, मैं नहीं बनूंगा। मैं निर्वाणधाम में बैठ जाता हूँ, बच्चों को विश्व का मालिक बनाता हूँ। सच्ची-सच्ची निष्काम सेवा निराकार परमपिता परमात्मा ही कर सकते हैं, मनुष्य नहीं कर सकते। ईश्वर को पाने से सारे विश्व के मालिक बन जाते हैं। धरती आसमान सबके मालिक बन जाते हैं। देवतायें विश्व के मालिक थे ना। अभी तो कितने पार्टीशन हो गये हैं। अभी फिर बाप कहते हैं हम तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। स्वर्ग में तुम ही थे। भारत विश्व का मालिक था, अभी कंगाल है। फिर से इन माताओं द्वारा भारत को विश्व का मालिक बनाता हूँ। मैजारटी माताओं की है इसलिए वन्दे मातरम कहा जाता है।

टाइम थोड़ा है, शरीर पर भरोसा नहीं है। मरना तो सबको है। सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, सबको वापिस जाना है। यह भगवान् पढ़ाते हैं। नॉलेजफुल, पीसफुल, ब्लिसफुल उनको कहा जाता है। वही फिर ऐसा सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण पवित्र बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह पढ़ाई हीरे जैसा बनाती है इसलिए इसे अच्छी तरह पढ़ना है और सब संग तोड़ एक बाप संग जोड़ना है।

2) श्रीमत पर चलकर स्वर्ग का पूरा वर्सा लेना है। चलते-फिरते स्वदर्शन चक्र फिराते रहना है।

वरदान:- श्रीमत प्रमाण जी हजूर कर, हजूर को हाज़िर अनुभव करने वाले सर्व प्राप्ति सम्पन्न भव
जो हर बात में बाप की श्रीमत प्रमाण “जी हजूर-जी हजूर” करते हैं, तो बच्चों का जी हजूर करना और बाप का बच्चों के आगे हाजिर हजूर होना। जब हजूर हाजिर हो गया तो किसी भी बात की कमी नहीं रहेगी, सदा सम्पन्न हो जायेंगे। दाता और भाग्यविधाता-दोनों की प्राप्तियों के भाग्य का सितारा मस्तक पर चमकने लगेगा।
स्लोगन:- परमात्म वर्से के अधिकारी बनकर रहो तो अधीनता आ नहीं सकती।
Font Resize