daily murli 3 july

TODAY MURLI 3 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 July 2020

03/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Bestower of liberation in life who grants salvation to all has now become your Father. You are His children. Therefore, you should have a great deal of intoxication.
Question: Which children’s intellects are unable to have remembrance of Baba constantly?
Answer: The intellects of those who do not have full faith are unable to have constant remembrance of Baba. If they don’t know who is teaching them, who is it they would remember? Those who recognise Him accurately and who remember Him become absolved of their sins. The Father Himself comes and gives you the accurate introduction of Himself and His home.

Om shanti. All of you children constantly remember the meaning of “Om shanti”. I am a soul and my home is the land of nirvana, the incorporeal world. Although people make effort on the path of devotion, they don’t know where they have to go. They don’t know what gives happiness and what caused sorrow. They have sacrificial fires, do tapasya, make donations and perform charity etc., and yet they continue to come down the ladder. You have now received knowledge. Therefore, your devotion has come to an end. The atmosphere of loud bells ringing etc., has all ended. There would surely be a difference between the new world and the old world. The new world is the pure world. You children now have the land of happiness in your intellects. The land of happiness is called heaven and the land of sorrow is called hell. Human beings want peace, but no one can go to the land of peace. The Father says: Until I come here in Bharat, you children cannot return home. It is only in Bharat that the birth of Shiva is remembered. The Incorporeal definitely comes into a corporeal form. Can a soul do anything without a body? Unless a soul has a body, he continues to wander; he can even enter someone else’s body. Some souls are good whereas some are very mischievous and can make another person go mad. A soul definitely needs a body. In the same way, if the Supreme Father, the Supreme Soul, did not have a body, what would He come and do in Bharat? Bharat is the imperishable land. In the golden age there is only the one land of Bharat. All the other lands will have been destroyed. It is remembered that there used to be the original eternal deity religion. Those people speak of the original eternal Hindu religion. In fact, there were no Hindus in the beginning; there were only deities. Those who live in Europe call themselves Christians; you would not say that they belong to the European religion. The people who live in Hindustan say that they belong to the Hindu religion. Those who belonged to the elevated deity religion have become corrupt in their religion while going around the cycle of 84 births. Only those who belonged to the deity religion will come here. If they don’t have faith, you can understand that they do not belong to this religion. Although they may be sitting here, they will not be able to understand this. They may be those who will claim a low status among the subjects there. Everyone wants peace and happiness, but that only exists in the golden age. Not everyone can go to the land of happiness. All the religions come into existence at their own time. There are innumerable religions and the tree continues to grow. The main part, the trunk, is the deity religion and then there are the three tubes. Those other religions cannot exist in heaven. The new religions start to emerge when the copper age begins. This is called the variety human tree. The variety-form image is different from this tree of the variety of religions. There are many types of human being. You know how many religions there are. In the beginning of the golden age, there was only one religion; it was a new world. Those who live abroad also know that ancient Bharat was Paradise and that it was very wealthy. This is why Bharat receives a great deal of respect. When a wealthy person becomes poor, others have compassion for him. Look how poor Bharat has now become! This too is part of the drama. They even say: God is the most merciful One and He comes in Bharat. It is definitely the wealthy who have compassion for the poor. The Father has unlimited wealth and makes us the highest on high. You should also have the intoxication of whose children you have become. We are the children of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, the One who is called the Bestower of Liberation-in-life and the Bestower of Salvation. Liberation-in-life exists first, in the golden age. Here, there is bondage-in-life. People on the path of devotion call out: Baba, liberate me from bondages. You can no longer call out in this way. You know that the Father is the Ocean of Knowledge. He explains the essence of the world history and geography. He is knowledge-full. This one himself says: I am not God. You have to become detached from your bodies and become soul conscious. You have to forget the whole world including your own bodies. This one is not God. We are called BapDada. The Father is the Highest on High. This is an old impure body. There is praise of just the One. You have to have yoga with Him; only then will you become pure. Otherwise, you can never become pure. Then, at the end, there will be punishment experienced through which your sins will be settled and you will return home. On the path of devotion, you have continued to listen to the mantra “Hum-so, so-hum”: I, the soul, am the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the soul. That wrong mantra diverted you from God, the Supreme Soul. The Father says: Children, it is completely wrong to say “I, the soul, am the Supreme Soul.” The significance of the different castes has also been explained to you children. We are Brahmins and we are making effort to become deities. Then, after we become deities, we go into the warrior clan. No one else knows how we take 84 births and in which clan. You now know that you are Brahmins. Baba is not a Brahmin. Only you go into those clan. You have now been adopted and come into the Brahmin religion. You have become children of Prajapita Brahma through Shiv Baba. You also know that incorporeal souls originally belong to God’s family. We souls are residents of the incorporeal world and we then go into the corporeal world. We have to come here to play our parts. When we come here from up there, we take eight births in the deity clan. Then we go into the warrior clan and then the merchant clan. The Father explains: You took this many births in the deity clan and then this many births in the warrior clan. The cycle is of 84 births. No one except you can receive this knowledge. Those who belong to this religion will come here. The kingdom is being established. Some will become kings and queens and others will become subjects. The sun dynasty is the dynasty of eight: Lakshmi and Narayan the First, then Lakshmi and Narayan the Second, the Third etc. Then there will also be the Firstthe Second, the Third etc., in the warrior religion. The Father explains all of these aspects. When the Ocean of Knowledge comes, devotion comes to an end; the night finishes and the day begins. There is no type of stumbling there. There is only rest and comfort; there is no upheaval there. This drama is predestined. The Father comes at the time when the devotion cults end. Everyone definitely has to return home. Then, everyone will come down, numberwise. When Christ comes, those who belong to his religion will also continue to come. Look how many Christians there are! Christ is the seed of Christianity. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, is the Seed of the deity religion. The Supreme Father, the Supreme Soul, establishes your religion. Who brought you into the Brahmin religion? The Father adopted you. Therefore, the small Brahmin religion was created through that. The topknot of Brahmins has been remembered. The topknot is just a symbol. The other castes then follow and increase. Only the Father sits here and explains all of these aspects. The Father is the Benefactor and He comes to benefit Bharat. He brings the most benefit to you children. Look what you become from what you were! You become the masters of the land of immortality. You are now gaining victory over lust. There is no untimely death there. There is no question of dying there, but you do change your costumes. Just as a snake sheds its skin and takes another so you also shed your old skins here and take new skins in the new world. The golden age is called the garden of flowers. There are never any bad words spoken there. Here, there is only bad company; there is the company of Maya. That is why this is called the extreme depths of hell. When a building becomes very old, the municipality orders it to be vacated. The Father also says: I come when the world becomes old. There is salvation through knowledge. You are being taught Raj Yoga. There is nothing in devotion. Yes, by donating and performing charity you receive temporary happiness. Sannyasis inspire kings to have disinterest in the world: Happiness here is like the droppings of a crow. You children are now being taught to have unlimited disinterest. This world is old; now remember the land of happiness. Then you will come here via the land of peace. Your accurate memorial of this time is in the Dilwala Temple; you are shown sitting in tapasya and heaven is portrayed above you. Otherwise, where else would heaven be shown? When a person dies, they say that he has gone to heaven, because they consider heaven to be up above. However, there is nothing up above. Bharat becomes heaven and Bharat becomes hell. That temple is an accurate memorial. All of those temples are built later. There is no devotion in heaven. There, there is nothing but happiness. The Father comes and explains all the secrets to you. The names of all souls keep changing; the name of Shiva never changes. He does not have a body of His own. How would He teach without a body? There is no question of inspiration in this. Inspiration means thoughts. It is not that He gives inspirations from up above and that they reach you. There is no question of inspiration in this. The intellects of the children who don’t fully recognize of the Father, those who don’t have full faith, are not able to have remembrance of Him. They don’t know who is teaching them. Therefore, whom would they remember? It is only by having remembrance of the Father that your sins can be absolved. People have been remembering the oval image for birth after birth because they consider that to be God. That image symbolises Him being incorporeal and not corporeal. The Father says: I too have to take the support of matter. How else could I explain the secrets of the world cycle to you? This is spiritual knowledge. Only you spirits receive this knowledge. Only the one Father can give this knowledge. You have to take rebirth. All actors receive their own parts to play. No one can return to the land of nirvana; no one can attain eternal liberation. Those who become the number one masters of the world are the ones who go around the cycle of 84 births. They definitely do have to go around the cycle. Human beings believe that they can receive eternal liberation. There are so many different opinions. Expansion continues to take place. No one can return home. The Father tells you the story of 84 births. You children have to study and then teach others. No one but you can give this spiritual knowledge; neither shudras nor deities can give this knowledge. There is no degradation in the golden age, so no one receives this knowledgethere. This knowledge is for receiving salvation. The Bestower of Salvation, the Liberator and the Guide are all One. No one can become pure except by having the pilgrimage of remembrance. Otherwise you definitely have to experience punishment and the status is destroyed. Everyone’s accounts have to be settled. You are told everything about yourselves. What is the need to go into the depths of other religions? Only the people of Bharat receive this knowledge. The Father only comes in Bharat and establishes three religions. You are now being taken out of the shudra religion and into an elevated clan. That is the degraded impure clan. You Brahmins now become instruments to purify everyone. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra Shiv Baba has created this sacrificial fire. The whole of the old impure world will be sacrificed into this unlimited sacrificial fire. Then the new world will be established and the old world destroyed. You are taking this knowledge for the new world. Not even a shadow of the deities can fall onto the old world. You children know that those who came in the previous cycle will come again and take this knowledge. They will study this, numberwise, according to the efforts they make. Human beings want peace here. However, souls are residents of the land of peace. How can there be peace here? At this time, there is peacelessness in every home. This is the kingdom of Ravan. In the golden age there is the kingdom of total peace. There is one religion and one language there. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have unlimited disinterest in this old world and even forget your own body and remember the land of peace and the land of happiness. Let your intellect have faith and stay on the pilgrimage of remembrance.
  2. You must understand the meaning of the mantra, “Hum so, so hum”, accurately and make effort to change from Brahmins into deities. Explain the accurate meaning of this mantra to everyone.
Blessing: May you become an embodiment of virtues and experience all virtues by having a balance of the three types of service.
The children who always remain engaged in service with their every thought, word and act become embodiments of success. When they have equal marks in all three and they have a balance of all three throughout the day, they will thenpass with honours and become embodiments of virtues. The beautiful decoration of all divine virtues is clearly visible in them. To give one another co-operation of the Father’s virtues and the virtues that you have imbibed is to become an embodiment of virtues because the donation of virtue is the greatest donation.
Slogan: When the foundation of faith is strong, you automatically experience an elevated life.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

03-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – जो सर्व की सद्गति करने वाला जीवनमुक्ति दाता है, वह आपका बाप बना है, तुम उनकी सन्तान हो, तो कितना नशा रहना चाहिए”
प्रश्नः- किन बच्चों की बुद्धि में बाबा की याद निरन्तर नहीं ठहर सकती है?
उत्तर:- जिन्हें पूरा-पूरा निश्चय नहीं है उनकी बुद्धि में याद ठहर नहीं सकती। हमको कौन सिखला रहे हैं, यह जानते नहीं तो याद किसको करेंगे। जो यथार्थ पहचान कर याद करते हैं उनके ही विकर्म विनाश होते हैं। बाप स्वयं ही आकर अपनी और अपने घर की यथार्थ पहचान देते हैं।

ओम् शान्ति। अब ओम् शान्ति का अर्थ तो सदैव बच्चों को याद होगा। हम आत्मा हैं, हमारा घर है निर्वाणधाम वा मूलवतन। बाकी भक्ति मार्ग में मनुष्य जो भी पुरुषार्थ करते हैं उनको पता नहीं कहाँ जाना है। सुख किसमें है, दु:ख किसमें है, कुछ भी पता नहीं। यज्ञ, तप, दान, पुण्य, तीर्थ आदि करते सीढ़ी नीचे उतरते ही आते हैं। अभी तुमको ज्ञान मिला है तो भक्ति बन्द हो जाती है। घण्टे घड़ियाल आदि वह वातावरण सब बन्द। नई दुनिया और पुरानी दुनिया में फ़र्क तो है ना। नई दुनिया है पावन दुनिया। तुम बच्चों की बुद्धि में है सुखधाम। सुखधाम को स्वर्ग, दु:खधाम को नर्क कहा जाता है। मनुष्य शान्ति चाहते हैं, परन्तु वहाँ कोई भी जा नहीं सकते। बाप कहते हैं मैं जब तक यहाँ भारत में न आऊं तब तक मेरे सिवाए तुम बच्चे जा नहीं सकते। भारत में ही शिवजयन्ती गाई जाती है। निराकार जरूर साकार में आयेगा ना। शरीर बिगर आत्मा कुछ कर सकती है क्या? शरीर बिगर तो आत्मा भटकती रहती है। दूसरे तन में भी प्रवेश कर लेती है। कोई अच्छे होते हैं, कोई चंचल होते हैं, एकदम तवाई बना लेती है। आत्मा को शरीर जरूर चाहिए। वैसे ही परमपिता परमात्मा को भी शरीर न हो तो भारत में क्या आकर करेंगे! भारत ही अविनाशी खण्ड है। सतयुग में एक ही भारत खण्ड है। और सब खण्ड विनाश हो जाते हैं। गाते हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। यह लोग फिर आदि सनातन हिन्दू धर्म कह देते हैं। वास्तव में शुरू में कोई हिन्दू नहीं, देवी-देवतायें थे। यूरोप में रहने वाले अपने को क्रिश्चियन कहते हैं। यूरोपियन धर्म थोड़ेही कहेंगे। यह हिन्दूस्तान में रहने वाले हिन्दू धर्म कह देते। जो दैवी धर्म श्रेष्ठ थे, वही 84 जन्मों में आते धर्म भ्रष्ट बन गये हैं। देवता धर्म के जो होंगे वही यहाँ आयेंगे। अगर निश्चय नहीं तो समझो इस धर्म के नहीं हैं। भल यहाँ बैठे होंगे तो भी उनकी समझ में नहीं आयेगा। वहाँ कोई प्रजा में कम पद पाने वाला होगा। चाहते सब सुख-शान्ति हैं, वह तो होता है सतयुग में। सब तो सुखधाम में जा नहीं सकते। सब धर्म अपने-अपने समय पर आते हैं। अनेक धर्म हैं, झाड़ वृद्धि को पाता रहता है। मूल थुर है देवी-देवता धर्म। फिर हैं 3 ट्यूब। स्वर्ग में तो यह हो न सकें। द्वापर से लेकर नये धर्म निकलते हैं, इनको वैराइटी ह्युमन ट्री कहा जाता है। विराट रूप अलग है, यह वैराइटी धर्मों का झाड़ है। किस्म-किस्म के मनुष्य हैं। तुम जानते हो कितने धर्म हैं। सतयुग आदि में एक ही धर्म था, नई दुनिया थी। बाहर वाले भी जानते हैं, भारत ही प्राचीन बहिश्त था। बहुत साहूकार था इसलिए भारत को बहुत मान मिलता है। कोई साहूकार, गरीब बनता है तो उस पर तरस खाते हैं। बिचारा भारत क्या हो पड़ा है! यह भी ड्रामा में पार्ट है। कहते भी हैं सबसे जास्ती रहमदिल ईश्वर ही है और आते भी भारत में हैं। गरीबों पर जरूर साहूकार ही रहम करेंगे ना। बाप है बेहद का साहूकार, ऊंच ते ऊंच बनाने वाला। तुम किसके बच्चे बने हो वह भी नशा होना चाहिए। परमपिता परमात्मा शिव की हम सन्तान हैं, जिसको ही जीवनमुक्ति दाता, सद्गति दाता कहते हैं। जीवनमुक्ति पहले-पहले सतयुग में होती है। यहाँ तो है जीवनबन्ध। भक्ति मार्ग में पुकारते हैं बाबा बंधन से छुड़ाओ। अभी तुम पुकार नहीं सकते।

तुम जानते हो बाप जो ज्ञान का सागर है, वही वर्ल्ड की हिस्ट्री-जाग्रॉफी का सार समझा रहे हैं। नॉलेजफुल हैं। यह तो खुद कहते हैं मैं भगवान नहीं हूँ। तुम्हें तो देह से न्यारा देही-अभिमानी बनना है। सारी दुनिया को, अपने शरीर को भी भूलना है। यह भगवान है नहीं। इनको कहते ही हैं बापदादा। बाप है ऊंच ते ऊंच। यह पतित पुराना तन है। महिमा सिर्फ एक की है। उनसे योग लगाना है तब ही पावन बनेंगे। नहीं तो कभी पावन बन नहीं सकेंगे और पिछाड़ी में हिसाब-किताब चुक्तू कर सज़ायें खाकर चले जायेंगे। भक्ति मार्ग में हम सो, सो हम का मंत्र सुनते आये हो। हम आत्मा सो परमपिता परमात्मा, सो हम आत्मा – यही रांग मंत्र परमात्मा से बेमुख करने वाला है। बाप कहते हैं – बच्चे, परमात्मा सो हम आत्मा कहना यह बिल्कुल रांग है। अभी तुम बच्चों को वर्णों का भी रहस्य समझाया गया है। हम सो ब्राह्मण हैं फिर हम सो देवता बनने के लिए पुरूषार्थ करते हैं। फिर हम सो देवता बन क्षत्रिय वर्ण में आयेंगे। और कोई को थोड़ेही पता है – हम कैसे 84 जन्म लेते हैं? किस कुल में लेते हैं? तुम अभी समझते हो हम ब्राह्मण हैं, बाबा तो ब्राह्मण नहीं है। तुम ही इन वर्णों में आते हो। अब ब्राह्मण धर्म में एडाप्ट किया है। शिवबाबा द्वारा प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान बने हो। यह भी जानते हो निराकारी आत्मायें असली ईश्वरीय कुल की हैं। निराकारी दुनिया में रहने वाली हैं। फिर साकारी दुनिया में आती हैं। पार्ट बजाने आना पड़ता है। वहाँ से आये फिर हमने देवता कुल में 8 जन्म लिए, फिर हम क्षत्रिय कुल में, वैश्य कुल में जाते हैं। बाप समझाते हैं तुमने इतने जन्म दैवीकुल में लिये फिर इतने जन्म क्षत्रिय कुल में लिये। 84 जन्मों का चक्र है। तुम्हारे बिगर यह ज्ञान और कोई को मिल न सके। जो इस धर्म के होंगे वही यहाँ आयेंगे। राजधानी स्थापन हो रही है। कोई राजा-रानी कोई प्रजा बनेंगे। सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण दी फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड – 8 गद्दी चलती हैं फिर क्षत्रिय धर्म में भी फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड ऐसे चलता है। यह सब बातें बाप समझाते हैं। ज्ञान का सागर जब आते हैं तो भक्ति खलास हो जाती है। रात खत्म हो दिन होता है। वहाँ किसी भी प्रकार के धक्के नहीं होते। आराम ही आराम है, कोई हंगामा नहीं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। भक्ति कल्ट में ही बाप आते हैं। सबको वापिस जरूर जाना है फिर नम्बरवार उतरते हैं। क्राइस्ट आयेंगे तो फिर उनके धर्म वाले भी आते रहेंगे। अभी देखो कितने क्रिश्चियन हैं। क्राइस्ट हो गया क्रिश्चियन धर्म का बीज। इस देवी-देवता धर्म का बीज है परमपिता परमात्मा शिव। तुम्हारा धर्म स्थापन करते हैं परमपिता परमात्मा। तुमको ब्राह्मण धर्म में किसने लाया? बाप ने एडाप्ट किया तो उनसे छोटा ब्राह्मण धर्म हुआ। ब्राह्मणों की चोटी गाई जाती है। यह है निशानी चोटी फिर नीचे आओ तो शरीर बढ़ता जाता है। यह सब बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। जो बाप कल्याणकारी है वही आकर भारत का कल्याण करते हैं। सबसे अधिक कल्याण तो तुम बच्चों का ही करते हैं। तुम क्या से क्या बन जाते हो! तुम अमरलोक के मालिक बन जाते हो। अभी ही तुम काम पर विजय पाते हो। वहाँ अकाले मृत्यु होती नहीं। मरने की बात नहीं। बाकी चोला तो बदलेंगे ना। जैसे सर्प एक खाल उतार दूसरी लेते हैं। यहाँ भी तुम यह पुरानी खाल छोड़ नई दुनिया में नई खाल लेंगे। सतयुग को कहा जाता है गॉर्डन ऑफ फ्लावर्स। कभी कोई कुवचन वहाँ नहीं निकलता। यहाँ तो है ही कुसंग। माया का संग है ना इसलिए इनका नाम ही है रौरव नर्क। जगह पुरानी होती है तो म्युनिसिपाल्टी वाले पहले से ही खाली करा देते हैं। बाप भी कहते हैं जब पुरानी दुनिया होती है तब हम आते हैं।

ज्ञान से सद्गति हो जाती है। राजयोग सिखाया जाता है। भक्ति में तो कुछ भी नहीं है। हाँ, जैसे दान-पुण्य करते हैं तो अल्पकाल के लिए सुख मिलता है। राजाओं को भी संन्यासी लोग वैराग्य दिलाते हैं, यह तो काग विष्टा समान सुख है। अभी तुम बच्चों को बेहद का वैराग्य सिखाया जाता है। यह है ही पुरानी दुनिया, अब सुखधाम को याद करो, फिर वाया शान्तिधाम यहाँ आना है। देलवाड़ा मन्दिर में हूबहू तुम्हारा इस समय का यादगार है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर में है स्वर्ग। नहीं तो स्वर्ग कहाँ दिखायें। मनुष्य मरते हैं तो कहेंगे स्वर्ग पधारा। स्वर्ग को ऊपर में समझते हैं परन्तु ऊपर में कुछ है नहीं। भारत ही स्वर्ग, भारत ही नर्क बनता है। यह मन्दिर पूरा यादगार है। यह मन्दिर आदि सब बाद में बनते हैं। स्वर्ग में भक्ति होती नहीं। वहाँ तो सुख ही सुख है। बाप आकर सब राज़ समझाते हैं। और सब आत्माओं के नाम बदलते हैं, शिव का नाम नहीं बदलता। उनका अपना शरीर है नहीं। शरीर बिगर पढ़ायेंगे कैसे! प्रेरणा की तो कोई बात ही नहीं। प्रेरणा का अर्थ है विचार। ऐसे नहीं, ऊपर से प्रेरणा करेंगे और पहुँच जायेंगे, इसमें प्रेरणा की कोई बात नहीं। जिन बच्चों को बाप की पूरी पहचान नहीं, पूरा निश्चय नहीं उनकी बुद्धि में याद भी ठहरेगी नहीं। हमको कौन सिखला रहे हैं, वह जानते नहीं तो याद किसको करेंगे? बाप की याद से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। जो जन्म-जन्मान्तर लिंग को ही याद करते हैं, समझते हैं यह परमात्मा है, उनका यह चिन्ह है, वह है निराकार, साकार नहीं है। बाप कहते हैं मुझे भी प्रकृति का आधार लेना पड़ता है। नहीं तो तुमको सृष्टि चक्र का राज़ कैसे समझाऊं। यह है रूहानी नॉलेज। रूहों को ही यह नॉलेज मिलती है। यह नॉलेज एक बाप ही दे सकते हैं। पुनर्जन्म तो लेना ही है। सब एक्टर्स को पार्ट मिला हुआ है। निर्वाण में कोई भी जा नहीं सकता। मोक्ष को पा नहीं सकते। जो नम्बरवन विश्व के मालिक बनते हैं वही 84 जन्मों में आते हैं। चक्र जरूर लगाना है। मनुष्य समझते हैं मोक्ष मिलता है, कितने मत-मतान्तर हैं। वृद्धि को पाते ही रहते हैं। वापिस कोई भी जाते नहीं। बाप ही 84 जन्मों की कहानी बताते हैं। तुम बच्चों को पढ़कर फिर पढ़ाना है। यह रूहानी नॉलेज तुम्हारे सिवाए और कोई दे न सके। न शूद्र, न देवतायें दे सकते। सतयुग में दुर्गति होती नहीं जो नॉलेज मिले। यह नॉलेज है ही सद्गति के लिए। सद्गति दाता लिबरेटर गाइड एक ही है। सिवाए याद की यात्रा के कोई भी पवित्र बन न सके। सज़ायें जरूर खानी पड़ेंगी। पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। सबका हिसाब-किताब चुक्तू तो होना है ना। तुमको तुम्हारी ही बात समझाते हैं और धर्मों में जाने की क्या पड़ी है। भारतवासियों को ही यह नॉलेज मिलती है। बाप भी भारत में ही आकर 3 धर्म स्थापन करते हैं। अभी तुमको शूद्र धर्म से निकाल ऊंच कुल में ले जाते हैं। वह है नीच पतित कुल, अब पावन बनाने के लिए तुम ब्राह्मण निमित्त बनते हो। इनको रुद्र ज्ञान यज्ञ कहा जाता है। रुद्र शिवबाबा ने यज्ञ रचा है, इस बेहद के यज्ञ में सारी पुरानी दुनिया की आहुति पड़नी है। फिर नई दुनिया स्थापन हो जायेगी। पुरानी दुनिया खत्म होनी है। तुम यह नॉलेज लेते ही हो नई दुनिया के लिए। देवताओं की परछाई पुरानी दुनिया में नहीं पड़ती। तुम बच्चे जानते हो कि कल्प पहले जो आये होंगे वही आकर यह नॉलेज लेंगे। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार पढ़ाई पढ़ेंगे। मनुष्य यहाँ ही शान्ति चाहते हैं। अब आत्मा तो है ही शान्तिधाम की रहने वाली। बाकी यहाँ शान्ति कैसे हो सकती। इस समय तो घर-घर में अशान्ति है। रावण राज्य है ना। सतयुग में बिल्कुल ही शान्ति का राज्य होता है। एक धर्म, एक भाषा होती है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैरागी बन अपनी देह को भी भूल शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। निश्चयबुद्धि बन याद की यात्रा में रहना है।

2) हम सो, सो हम के मंत्र को यथार्थ समझकर अब ब्राह्मण सो देवता बनने का पुरुषार्थ करना है। सभी को इसका यथार्थ अर्थ समझाना है।

वरदान:- तीन सेवाओं के बैलेन्स द्वारा सर्व गुणों की अनुभूति करने वाले गुणमूर्त भव
जो बच्चे संकल्प, बोल और हर कर्म द्वारा सेवा पर तत्पर रहते हैं वही सफलतामूर्त बनते हैं। तीनों में मार्क्स समान हैं, सारे दिन में तीनों सेवाओं का बैलेन्स है तो पास विद आनर वा गुणमूर्त बन जाते हैं। उनके द्वारा सर्व दिव्य गुणों का श्रृंगार स्पष्ट दिखाई देता है। एक दूसरे को बाप के गुणों का वा स्वयं की धारणा के गुणों का सहयोग देना ही गुणमूर्त बनना है क्योंकि गुणदान सबसे बड़ा दान है।
स्लोगन:- निश्चय रूपी फाउण्डेशन पक्का है तो श्रेष्ठ जीवन का अनुभव स्वत: होता है।

TODAY MURLI 3 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 July 2018 :- Click Here

03/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become introverted and remain busy in this study. Constantly continue to follow shrimat and your fortune will become very elevated. This is the time to make your fortune.
Question: What is the elevated fortune of you children on the basis of which you come to know the fortune of the whole world?
Answer: To become a spinner of the discus of self-realisation is the highest fortune of all. You Brahmins have now become spinners of the discus of self-realisation. You know your own fortune and also the fortune of the whole world. Baba has come to make the fortune of you children as valuable as a diamond. Let it remain in your awareness that God Himself is teaching you to make your fortune and your fortune will thereby continue to increase.
Song: You are the fortune of tomorrow.

Om shanti. You children heard a few words of the song. You should become intoxicated about your fortune as soon as you hear it. This intoxication is imperishable and should never decrease. When someone is a wealthy millionaire, he has the intoxication day and night that he is very wealthy and has a lot of property. There is intoxication of their wealth. So, the Father is the One who makes your fortune. Your fortune is lost at the moment. You can judge whether your fortune is worth a shell or a diamond. The unlimited Father sits personally in front of you and makes your fortune. You can see this and you also know it. Can you see the Supreme Soul or do you know Him? You children know that you are souls. Although you cannot see a soul, you have the faith that you are souls, like stars. You reside in the centre of the forehead. At this time, you children have to become soul conscious. The one residing in this body is called a soul, separate from the body. Souls have the pride that the Supreme Soul has come to meet them. When children take birth to their father, they become heirs. Some receive a fortune worth a few pennies and others don’t receive anything; they just take birth. Some people have five or six children. When they have low paid jobs, they understand that that was in their fortune. They see others and think, “They have so many palaces, crowns and thrones in their fortune.” There is a variety of fortunes for human beings. So, you now know your fortune, and for which fortune you are now making effort. Human beings make effort for wealth and happiness. When wealthy people fall ill, they receive treatment from good doctors. They believe that they would receive good treatment because of their wealth. Therefore, it is a matter of wealth. You are making a very great fortune by following shrimat. You children know that Baba is making your fortune the highest on high because He Himself is the Highest on High. You are now sitting personally in front of Him. You are sitting in the home of the Mother and Father. Those who are kings and queens understand that they had performed such actions that they received the fortune to rule the kingdom. When you look at the picture of Lakshmi and Narayan, you know that they definitely made their fortune in their previous birth. You have received this wisdom. It doesn’t enter the intellects of human beings how all of those wealthy people received their fortune. It would be said that they had performed such actions in their pastbirths that they became so wealthy. That is the fruit of their karma. They sing: The philosophy of karma is unique. Whatever human beings receive, it is according to their past actions. You can compare the fortune of the highest-on-high Lakshmi and Narayan: They became the masters of the golden age. Who created their karma in such a way that they became the masters of the world? You now know the whole cycle. You Brahmins have now become spinners of the discus of self-realisation. Other brahmins would not be spinners of the discus of self-realisation. They are brahmins and you too are Brahmins, but you know that you are true Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. Surely, Brahma too would be someone’s child. He is Shiv Baba’s child. Shiv Baba is the Creator. He has no father of His own. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, is making your fortune. Your fortune is made by your father, not by your maternal or paternal uncles etc. Yes, for some, it is created by them if they adopt you. You children have also been adopted according to the drama, as you were in the previous cycle. No one is higher than He is. Prajapita Brahma has so many children. What inheritance would he receive from the Father? You understand that Shiv Baba is the Father of all souls and that Brahma is the father of all living beings, and you therefore become brothers and sisters. The Father tells you children: Look, your fortune is so elevated! I teach you and make you so fortunate. At the beginning of the golden age, it truly was the kingdom of Shri Lakshmi and Narayan and the residents of heaven. I made their fortune so elevated. You children have the secret in your intellects that it was Shiv Baba alone who made their fortune so elevated. They experienced their fortune and completed their 84 births. They are now making that same fortune once again. You have this knowledge in your intellects. No one, except the Ocean of Knowledge, Shiv Baba, can explain to you. Such a Father is so lovely. The Father says: You children too are lovely. I order you to practise remembering Me constantly so that your sins are absolved. You know that Shiv Baba is now personally in front of you in the body of Brahma. The Father has explained: I am always incorporeal. My name is always Shiva. I do not enter a corporeal form and take rebirth. I have now come. You know who is talking to you. Your intellects go up above. That incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He is the One who is making your fortune. Heavenly God, the Father, would establish heaven, would He not? You know how the Father is personally speaking to you through the body of Brahma. He says: Beloved children, the drama is now complete. The soul listens to Him. The soul knows that this is right. The Father says: Remember Me as much as possible. I have given you the knowledge of the whole world cycle. Some are able to imbibe this very well and others forget. You are now sitting here and He is giving you the nectar of knowledge, that is, He is teaching you this knowledge. Shiv Baba is sitting personally in front of you. He does not enter birth and rebirth. Your name, form, land and time continue to change birth after birth. You always receive different features. These are such deep and subtle matters. You souls repeatedly shed your bodies and take others. In your next birth you will not have the same forms that you have now. The features of one birth cannot be the same as those in another birth. Souls shed their bodies and take others, and so their activity, thoughts etc. all change. The soul has to play so many different parts. He plays his part s through different names, forms, places, times and activities. His activity continues to change. Sometimes, it is that of a king and, at other times, that of a pauper. It isn’t that he would sometimes become a dog or a cat; no! You know that you are now making effort to become princes and princesses in the future. You are changing from human beings into deities. This Mama and Baba are also making effort. Then, in the future, they will become Lakshmi and Narayan. To the extent that we make effort to make our own fortune, accordingly, we will receive a lot of happiness. This is such a huge income. Those people study for temporary happiness and become barrister s etc. in this birth. There is no question of anything for their next birth. In that too, it’s not certain whether they will become that or not. You understand that you will definitely go to heaven in the future. You will then be called deities. You must never forget that you will definitely claim your inheritance of the peacock throne. You will definitely become the highest on high. God, the Father, is teaching you and so that too enters your intellects. We are studying very well and creating our reward for 21 births. To the extent that you make effort at this time, so you will accordingly make your fortune elevated. That fortune will remain permanent cycle after cycle. This is why you should make good effort for your fortune. The fortune is very elevated. You have a lot of happiness. Although some people here may have millions, they don’t have happiness worth even a few pennies. There, they will experience their reward very peacefully and comfortably. Here, so many calamities continue to come. In just a short time, many will go bankrupt. People will continue to die. Although people are insured, what will the insurance companies be able to do? Look what happened at Hiroshima! So many people died. The insurance companies also went bankrupt. The same will happen here too; everyone will die. To whom would the insurance companies give money? Who would light the flame for the others? Human beings have so much blind faith. Eminent people are given so much respect. Rishis and munis are considered to be higher than them. Although they don’t believe in religion, they would definitely bow down to the sannyasis. They would go to holy men and prostrate themselves in front of them. Sages would not prostrate themselves in front of them because they consider themselves to be elevated and pure. This Father says: My beloved children. I salute you children. You are the peacock feather in the crown on My head. You will become the masters of the world. You are also masters of Brahmand. You are double masters. I am the single Master of just Brahmand. No one, apart from the Father, can explain these things. Therefore, how much you should remember such a Father from whom you receive such an inheritance! The Father says: Look, so many children go from here, and then they don’t even write a letter to the Father for six months. Oh! you don’t write a letter to the Lord of Life, the Beloved Father, who is lovelier than life itself! When a wife writes a letter to her husband, she writes: Praneshwar (Lord of Life) So-and-so. In fact, none of them is Praneshwar. Only the one Father is Praneshwar. The God of all praan (living beings) is the one Father. He says: Praneshwar children, that is, children of God who saves your life. Children too say: Praneshwar Baba! Baba who saves our lives! This name has been invented here. It is only in Bharat that they write Praneshwar, Praneshwari, but they are not that. Only the Father gives the donation of life. The Father says: When you belong to Me, no one can cause you sorrow. It is the soul that takes sorrow. The soul feels that the Father explains with so much love. The soul remembers Him and praises Him. You also remember Mama so much. Those who serve many others very well receive such a high status. Then, after her, there are those in the second number who follow Baba in service. You have to become very merciful. Just as Baba has made us, so we have to make others the same. You attain such great property: the kingdom of heaven. There, we remain so wealthy that we build temples of gold and diamonds. They show a play about Maya, the Magician. That one saw that there were some gold bricks lying there (in the subtle region) and thought he would bring them back down. In your visions, you see palaces of diamonds and jewels in heaven. You see gold mines and so you feel that you should bring a little of it back down. You can’t find gold in the subtle region. Gold exists in Paradise. You know that when you are there, you will go to the mines in your vimans and come back with your vimans full of gold. There are also very big gold bars. Even now, wealthy people have gold. Bharat definitely has to keep gold and silver. Everyone has big vaults built which no one can loot and fire cannot burn. So, you will receive all of that in your hands in the future. Bombs etc. are dropped from aeroplanes for destruction, but those things will become instrumental for your happiness. Those things existed in the golden age and then they disappeared. They have now been invented again. You know how you will go and bring back things from the mines. All the mines will become new. Now they are old. Therefore, you should claim your full fortune from the Father who created such fortune. You shouldn’t be careless about this. Remember the Father and your inheritance. The Father says: Have attachment to the One alone. Remember heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be careless about making your fortune elevated. Follow shrimat well and, on the basis of studying, make your fortune elevated.
  2. Stay in remembrance of the Father, Praneshwar, and donate life to everyone. Save everyone’s life. Never make anyone unhappy.
Blessing: May you be seated on BapDada’s heart throne and remain fearless and carefree by always being in the place of safety.
BapDada’s heart throne is the most elevated place. Only those who are always seated on the Father’s heart throne remain safe. Maya cannot come to them. Such souls who are seated on the heart throne are fearless and carefree. This is guaranteed and unshakeable. So, sit on the heart throne. Maintain the intoxication that you are now on BapDada’s heart throne and that you will be seated on the throne of the kingdom for many births. By having this spiritual intoxication you will have no waves of sorrow.
Slogan: Let there not be any type of burden on your intellect and you will then be called a double  light angel.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 July 2018

To Read Murli 2 July 2018 :- Click Here
03-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अन्तर्मुखी बन पढ़ाई में तत्पर रहो, श्रीमत पर सदा चलते रहो तो तुम्हारी तकदीर बहुत ऊंच बन जायेगी, यह समय है अपनी तकदीर बनाने का”
प्रश्नः- तुम बच्चों की ऊंची तकदीर कौन सी है जिसके आधार पर तुम सारे सृष्टि की तकदीर को जान लेते हो?
उत्तर:- स्वदर्शन चक्रधारी बनना – यह है सबसे ऊंचे ते ऊंची तकदीर। तुम ब्राह्मण अभी स्वदर्शन चक्रधारी बने हो। तुम अपनी भी तकदीर को जानते हो तो सारे सृष्टि की भी तकदीर को जानते हो। बाबा आये हैं तुम बच्चों की हीरे समान तकदीर बनाने। स्मृति में रहे स्वयं भगवान हमारी तकदीर बनाने लिए पढ़ा रहे हैं तो तकदीर बनती रहेगी।
गीत:- आने वाले कल की तुम…….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत के दो शब्द सुने। सुनने से ही अपनी तकदीर का नशा चढ़ जाना चाहिए। यह है अविनाशी नशा, उतरना नहीं चाहिए। कोई मनुष्य साहूकार पदमपति होते हैं तो उनको रात-दिन नशा रहता है – हम बड़े धनवान, जागीरवान हैं। नशा चढ़ता ही है सम्पत्ति का। तो बाप है तकदीर बनाने वाला। अभी तो तकदीर फूटी हुई है। कौड़ी मिसल तकदीर है वा हीरे मिसल तकदीर है, यह तुम जज कर सकते हो। बेहद का बाप सम्मुख बैठ तकदीर बनाते हैं। सो तुम देखते हो, जानते हो। परमपिता परमात्मा को देखते हो वा जानते हो? बच्चे जानते हैं हम आत्मा हैं। भल आत्मा को देखते नहीं हैं परन्तु निश्चय है हम आत्मा हैं, स्टार मिसल हैं। भ्रकुटी के बीच में रहते हैं। इस समय तुम बच्चों को आत्म-अभिमानी बनना है। इस देह में रहने वाले को आत्मा देही कहा जाता है। आत्मा को अभिमान है कि हमको परमपिता परमात्मा आकर मिला है। बच्चे बाप के पास जन्म लेते हैं तो वारिस होते हैं। फिर कोई तो पाई पैसे की तकदीर पा लेते हैं, कोई तो कुछ भी नहीं पाते। सिर्फ जन्म ही पाते हैं। कोई कोई हैं जिनके 5-6 बच्चे हैं। तलब (नौकरी) कम मिलती है तो समझते हैं हमारी तकदीर में यह था। औरों को देखते हैं – उन्हों की तकदीर में कितने महल-माड़ियाँ, ताज व तख्त हैं। मनुष्य के तकदीर की वैराइटी है ना। तो अब तुम अपनी तकदीर को जानते हो कि किस तकदीर के लिए हम पुरुषार्थ कर रहे हैं। धन के लिए, सुख के लिए। मनुष्य पुरुषार्थ तो करते ही हैं। धनवान मनुष्य बीमार पड़ते हैं तो अच्छे-अच्छे डॉक्टरों की दवाई करते हैं। समझते हैं धन से अच्छी दवाई होगी। तो धन की बात है ना। तुम बड़ी जबरदस्त तकदीर बनाते हो श्रीमत से। बच्चे जानते हैं बाबा ऊंच ते ऊंच तकदीर बनाते हैं क्योंकि खुद ऊंच ते ऊंच है। अब तुम उनके सम्मुख बैठे हो ना। माँ-बाप के घर में बैठे हैं। कोई राजा-रानी है तो समझते हैं हमने ऐसे कर्म किये हैं जो राजाई की तकदीर मिली है। अब तुम जानते हो हम जो यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र देखते हैं उन्होंने भी जरूर अगले जन्म में तकदीर बनाई है। तुमको यह बुद्धि मिली है। मनुष्यों की बुद्धि में यह नहीं आता। इतने धनवान मनुष्य हैं, उन्हों को यह तकदीर कैसे मिली? कहेंगे पास्ट जन्म में ऐसे कर्म किये हैं जो इतना धनवान बने हैं। कर्मों का फल है ना। गाते भी हैं कर्मों की गति न्यारी है। मनुष्य पास्ट के कर्मों अनुसार ही भोगते हैं। अभी तुम बड़े ते बड़े लक्ष्मी-नारायण के तकदीर की भेंट करते हो। यह जो सतयुग के मालिक बनें उन्हों की ऐसी कर्म गति किसने बनाई जो विश्व के मालिक बनें। तुम सारे चक्र को जान चुके हो।

तुम ब्राह्मण अभी स्वदर्शन चक्रधारी बने हुए हो। दूसरे ब्राह्मण तो स्वदर्शन चक्रधारी नहीं होंगे। वह भी ब्राह्मण, तुम भी ब्राह्मण हो। परन्तु तुम जानते हो कि हम हैं सच्चे ब्राह्मण। ब्रह्मा की मुख वंशावली। जरूर ब्रह्मा भी किसका बच्चा होगा। वह है शिवबाबा का बच्चा। शिवबाबा तो रचयिता है, उसका कोई बाप नहीं। तो अब तुम्हारी तकदीर परमपिता परमात्मा बनाते हैं। बाप से ही तकदीर बनती है। काका, चाचा, मामा आदि से नहीं बनती। हाँ, कोई की बन सकती है। अगर वह एडाप्ट करे तो। तुम बच्चों को भी एडाप्ट किया है, ड्रामा अनुसार कल्प पहले मुआफिक। उनसे ऊंचा कोई है नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा को इतने बच्चे हैं, ढेर के ढेर। उनको बाप से क्या वर्सा मिलता होगा। तुम समझते हो कि शिवबाबा है सभी आत्माओं का बाप और ब्रह्मा है सभी जीव आत्माओं का बाप। तुम इसमें भाई-बहन हो जाते हो। बाप तो तुम बच्चों को कहते हैं – देखा, तुम्हारी तकदीर कितनी ऊंची है! हम तुमको पढ़ाकर कितना तकदीरवान बनाता हूँ। बरोबर सतयुग आदि में श्री लक्ष्मी-नारायण वा इन स्वर्गवासियों की राजधानी थी। कितनी उन्हों की ऊंच तकदीर बनाई है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में राज़ है कि शिवबाबा ने ही उन्हों की ऊंच तकदीर बनाई थी। वह तकदीर भोग 84 जन्म पूरे किये। अब फिर वही तकदीर बना रहे हैं। यह तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान है। ज्ञान सागर शिवबाबा के सिवाए कोई भी समझा न सके। ऐसा बाप कितना लवली है। बाप भी कहते हैं तुम भी लवली बच्चे हो। तुमको मैं फ़रमान करता हूँ कि निरन्तर मुझे याद करने का अभ्यास करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। तुम जानते हो कि शिवबाबा अभी इस ब्रह्मा तन में सम्मुख हैं। बाप ने समझाया है मैं तो सदैव निराकार हूँ। मेरा नाम शिव ही है। मैं साकार में आकर पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ। अभी मैं आया हुआ हूँ। तुम जानते हो कौन बात कर रहा है! तुम्हारी बुद्धि ऊपर में चली जाती है। वह निराकार परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर है। वही तकदीर बनाने वाला है। हेविनली गॉड फादर हेविन की स्थापना करेगा ना। तुम जानते हो बाप कैसे ब्रह्मा तन में सम्मुख बात कर रहे हैं। कहते हैं – लाडले बच्चे, अब ड्रामा पूरा हुआ। आत्मा सुनती है। आत्मा ही जानती है कि यह यथार्थ बात है। बाप कहते हैं जितना हो सके मुझे याद करो और सारे सृष्टि चक्र की नॉलेज तुमको ही दी है। कोई को अच्छी रीति धारणा होती है, कोई भूल जाते हैं। अभी तुम बैठे हो, तुमको यह ज्ञान अमृत दे रहे हैं अथवा नॉलेज पढ़ा रहे हैं। सम्मुख शिवबाबा बैठा है। वह जन्म-मरण में नहीं आता है। तुम्हारा तो जन्म बाई जन्म नाम, रूप, देश, काल बदलता जाता है। फीचर्स सदैव न्यारे मिलते हैं। यह कितनी गुह्य सूक्ष्म बातें हैं। तुम्हारी आत्मा घड़ी-घड़ी एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। इस समय जो तुम्हारा रूप है, दूसरे जन्म में यह नहीं रहेगा। एक न मिले दूसरे से। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है तो उनकी एक्टिविटी, ख्यालात आदि सब बदल जाते हैं। आत्मा को कितना भिन्न-भिन्न पार्ट बजाना पड़ता है। भिन्न नाम, रूप, देश, काल एक्टिविटी से पार्ट बजाती है। एक्टिविटी भी बदलती रहती है – कभी राजा की, कभी रंक की। ऐसे नहीं कभी कुत्ता-बिल्ली भी बनेंगे। नहीं। अभी तुम जानते हो हम भविष्य में प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने के लिए पुरुषार्थ करते हैं। मनुष्य से देवता बन रहे हैं। यह मम्मा-बाबा भी पुरुषार्थ कर रहे हैं। फिर भविष्य में जाकर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। हम भी जितना अपनी तकदीर बनाने लिए पुरुषार्थ करेंगे उतना बहुत सुख मिलेगा। कितनी जबरदस्त कमाई है! वह तो करके अल्पकाल सुख के लिए पढ़कर इसी ही जन्म में बैरिस्टर आदि बनेंगे। दूसरे जन्म की बात ही नहीं। सो भी बनें, न भी बने, हो सकता है। तुम तो समझते हो कि हम भविष्य में स्वर्ग में जरूर जायेंगे। फिर वहाँ देवी-देवता कहलायेंगे। यह कभी भूलना नहीं है कि बाप से हम स्वर्ग के ताउसी तख्त का वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। ऊंच ते ऊंच बनकर ही दिखलायेंगे। गॉड फादर पढ़ाते हैं वह भी तो बुद्धि में आता है। हम अच्छी रीति पढ़कर 21 जन्म के लिए अपनी प्रालब्ध बनाते हैं। इस समय जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच तकदीर बनायेंगे। वह तकदीर कल्प-कल्प कायम रहेगी इसलिए इस समय तकदीर के लिए अच्छा पुरुषार्थ करना चाहिए। बड़ी भारी तकदीर है। बहुत सुख है। भल यहाँ कोई के पास करोड़ हैं परन्तु पाई का भी सुख नहीं है। वहाँ तो बिल्कुल शान्ति आराम से प्रालब्ध भोगेंगे। यहाँ तो कितनी आफतें आती रहती हैं। थोड़े टाइम में बहुत देवाला निकालेंगे। मरते जायेंगे। भल इनश्योर करते हैं परन्तु इनश्योरेंस कम्पनी भी क्या कर सकेगी? हिरोशिमा का क्या हाल हुआ! कितने आदमी मरे! इनश्योर कम्पनी ने भी देवाला मारा। यहाँ भी ऐसे ही होगा। सब खत्म हो जायेंगे। इनश्योरेन्स वाले किसको पैसा देंगे? कौन एक-दो का दीवा जलायेंगे?

मनुष्यों में अन्ध-विश्वास कितना है! बड़े आदमी का शो करते हैं। ऋषि-मुनियों को उनसे भी बड़ा समझते हैं। भल रिलीजन को नहीं मानते, परन्तु सन्यासियों को नमन जरूर करते होंगे। साधुओं के आगे जाकर दण्डवत प्रणाम करेंगे। साधू उनके आगे नहीं करेंगे क्योंकि समझते हैं मैं ऊंच पवित्र हूँ। यह बाप तो कहते हैं मेरे लाडले बच्चों – हम बच्चों को नमस्ते करते हैं। तुम तो हमारे सिर के मोर हो। तुम विश्व के मालिक बनेंगे। ब्रह्माण्ड के भी तुम मालिक हो। तुम डबल मालिक हो। मैं सिंगल सिर्फ ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ। ऐसी बातें सिवाए बाप के कोई समझा न सके। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए, जिससे ऐसा वर्सा मिलता है। बाप कहते हैं – देखो, कितने बच्चे यहाँ से होकर जाते हैं। फिर 6 मास में भी बाप को मुश्किल पत्र लिखते हैं। अरे, प्राण देने वाले प्राणों से प्यारे बाप को पत्र नहीं लिखते। स्त्री-पुरुष एक-दो को चिट्ठी लिखते हैं तो कहते हैं प्राणेश्वर, फलाना, वास्तव में वह कोई प्राणेश्वर तो है नहीं। प्राणेश्वर तो एक ही बाप है। सभी प्राणों का ईश्वर बाप एक है। वह कहते हैं – प्राणेश्वर बच्चे अर्थात् प्राण बचाने वाले ईश्वर के बच्चे। बच्चे भी कहते हैं प्राणेश्वर बाबा, हमारे प्राण बचाने वाले बाबा। यहाँ से ही यह नाम निकला हुआ है। भारत में ही ऐसे प्राणेश्वर, प्राणेश्वरी लिखते हैं। परन्तु हैं नहीं। प्राणों का दान तो बाप ही देते हैं। बाप कहते हैं तुम मेरे बनते हो तो फिर तुमको कोई दु:ख दे नहीं सकते। आत्मा को ही दु:ख मिलता है, आत्मा फील करती है बाप कितना प्यार से समझाते हैं। याद भी उनको करती है, महिमा करती है। मम्मा को भी कितना याद करते। जो बहुतों की अच्छी सर्विस करते हैं उनको कितना ऊंच मर्तबा मिलता है। फिर उनके बाद सेकेण्ड नम्बर में जो सर्विस में बाबा को फॉलो करते हैं। तुम्हें बहुत रहमदिल बनना है। जैसे बाबा ने हमको बनाया है, हम फिर औरों को बनावें। कितनी बड़ी प्रॉपर्टी की प्राप्ति है – स्वर्ग की राजधानी! वहाँ हम इतने साहूकार रहते हैं जो सोने-हीरों के महल बनायेंगे। एक माया मछन्दर का खेल भी दिखाते हैं। उसने देखा सोने की ईटें पड़ी हैं, थोड़ी ले जायें। तुम साक्षात्कार में स्वर्ग में हीरे-जवाहरों के महल देखते हो। सोने की खानियां देखते हो तो समझते हो थोड़ा ले जायें। सूक्ष्मवतन में सोना नहीं मिलता। सोना वैकुण्ठ में रहता है। तुम जानते हो वहाँ खानियों से हम विमानों में जाकर सोना भरकर ले आयेंगे। सोने की बड़ी-बड़ी ईटें भी होती हैं। अभी भी बड़ों-बड़ों के पास सोना तो पड़ा है ना। भारत को सोना-चांदी तो जरूर रखना है। सबके पास बड़ी-बड़ी गुफायें बनी हुई हैं, जहाँ कोई लूट-फूट न सके। आग जला न सके। तो वह सब भविष्य में तुम्हारे हाथ आ जायेगा। जिन एरोप्लेन आदि द्वारा अभी बाम्ब आदि गिराते हैं, विनाश के लिए, वही चीजें फिर सुख के लिए निमित्त बन जायेंगी। सतयुग में यह सब थी फिर प्राय:लोप हो गई। अब फिर बनी हैं। तुम जानते हो कैसे खानियों से जाकर ले आते हैं। खानियां सब नई हो जाती हैं। अभी तो पुरानी हैं। तो ऐसी तकदीर बनाने वाले बाप से पूरी तकदीर लेनी चाहिए। इसमें ग़फलत नहीं करनी चाहिए। बाप और वर्से को याद करो। बाप कहते हैं एक में मोह लगाओ। स्वर्ग को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी ऊंच तकदीर बनाने में ग़फलत नहीं करनी है। श्रीमत पर अच्छी रीति चल पढ़ाई के आधार से ऊंची तकदीर बनानी है।

2) प्राणेश्वर बाप की याद में रह सबको प्राण दान देना है। सबके प्राण बचाने हैं। किसी को भी दु:खी नहीं करना है।

वरदान:- सदा सेफ्टी के स्थान पर रह निर्भय और निश्चिंत रहने वाले बापदादा के दिलतख्तनशीन भव
बापदादा का दिलतख्त सर्वश्रेष्ठ स्थान है। जो सदा बाप के दिलतख्तनशीन रहते हैं वो ही सेफ रहते हैं। उनके पास माया आ नहीं सकती। ऐसी दिलतख्तनशीन आत्मा निर्भय है, निश्चिंत है – यह निश्चित है, अटल है। तो दिलतख्त पर बैठ जाओ। इसी नशे में रहो कि अभी हम बापदादा के दिलतख्तनशीन हैं और अनेक जन्म राज्य तख्तनशीन बनेंगे। इस रूहानी नशे में रहने से दु:ख की लहर आ नहीं सकती।
स्लोगन:- बुद्धि पर किसी भी प्रकार का बोझ न हो तब कहेंगे डबल लाइट फरिश्ते।

TODAY MURLI 3 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 2 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

03/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not have bodily love for any bodily beings. Have love for the one Father. Practise becoming bodiless accurately.
Question: What is the duty of merciful children?
Answer: When anyone speaks of useless matters, don’t listen to such useless matters, but tell the seniors for the benefit of that person. This is the duty of merciful children. To help others finish their old habits is to be merciful.
Question: What title cannot be given to bodily beings, although it can be given to Father Brahma?
Answer: The title ‘Shri’ cannot be given to anyone because Shri means someone who is elevated and pure. No bodily human being can be given this title, because everyone takes birth through vice. Father Brahma is called Shri because this is his alokik birth.
Song: Take us away from this land of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. You children have now understood, that is, you have become sensible. Therefore, surely, you were previously senseless. People cannot even understand that this is the impure world and that the kingdom of the deities was in this Bharat and that you were pure and happy there. There was no question of sorrow there. However, because of having heard certain things from the scriptures, they cannot even understand that there was constant happiness in heaven. No one knows about heaven. They believe that there was sorrow there too, but that is their senselessness. You children have now become sensible. The Father has come and explained to you. You are following His shrimat. This is the impure world. Heaven was the pure world. If there were sorrow in the pure world, that would be called the world of sorrow. Then the song would also be wrong. They even say: O Baba, take us to a place where we can have rest, comfort and happiness. You children know that heaven was the Golden Sparrow and that deities lived there. They never caused anyone sorrow. They sing of these things. Such things are written in the scriptures, so that they believe all of that has continued from time immemorial. They have even falsely accused Krishna. It is said: As is their vision, so their world. They believe that the whole world is impure. At this time, their vision is impure, and so they consider the whole world to be impure. They believe that impure activity has continued from time immemorial. You children now continue to receive this understanding, but this too is numberwise according to your efforts. The children of the Supreme Father, the Supreme Soul, receive directions. The Father sits here and explains to souls. All souls are now impure and this is why it is said: Impure soul and charitable soul. The Father sits here and speaks to souls: You are My imperishable children. You also speak of Mama and Baba. No one in this world can be called Pita Shri (Elevated or Respected Father). “Shri” means elevated. Not a single human being is elevated. This can be the praise of only one. Here, all have been created through vice. This is why they cannot be called Shri. However, at this time you can call this one Shri because he has adopted renunciation in order to become elevated. You know that we are now going to become angels. Corrupt ones cannot be called Shri. People say: Shri Lakshmi, Shri Narayan, Shri Radhe, Shri Krishna. They even sing praise of all of them in the temples. They cannot call themselves elevated. You children have now understood that Bharat was elevated. It was a pure world. It is now an impure world. Impure ones are called corrupt. Those people have gatherings to make corrupt people elevated. However, the world is corrupt, and so how could anyone make anyone else elevated? This truly is Ravan’s kingdom. It is due to this that they burn an effigy of Ravan every year. He doesn’t get burnt though; he comes alive again. People are not able to understand why they create a new effigy of someone they have already burnt. This proves that Ravan’s kingdom has not yet ended. There is the kingdom of Rama in heaven. There, they do not create effigies. It is said: Ravan was burnt and then Lanka was looted. They show a golden Lanka of Ravan. However, it is not like that; the whole world is Lanka. Everyone is in Ravan’s kingdom. That Shrilanka is an island. They have even shown it like that. It is at the tail of Bharat. However, it isn’t only that which is Ravan’s kingdom; the whole world is Ravan’s kingdom. You also understand this. What would a senseless person understand if he went and sat in a college? Nothing at all! He would simply waste his time. This is God’s college. No new person who comes here would be able to understand anything. You first have to make them sit in quarantine for seven days by which time they would become worthy. Even then, if that person is a good, religious-minded person, ask him: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? He is the Father of souls, and the Father of Humanity (Prajapita) is also a father. These points are very good, but you children still don’t remain that cheerful. The Father says: I tell you new points through which you can become intoxicated. You should know how to explain to someone. In the copy of the form, there should already be this question. They would reply that He is the Supreme Father, and so He is the Father. Then, at that time, the idea of omnipresence wouldn’t remain. When you ask them this question, they would say: He is the Father and we are all His children. If they accept this much, you should quickly get them to write this down: “We are also the children of Prajapita. Shiva is the Grandfather whereas he is the father. Shiv Baba is the One who establishes heaven and so we would definitely receive the inheritance from Him.” Tell them the easiest things of all. It is very easy. Also go to your friends and relatives and explain to them. You have the intoxication that you are claiming your inheritance from the Grandfather through Baba. You receive the inheritance from BapDada; you don’t receive an inheritance from the mother. The Father has to establish heaven. He is the Master. Just as he (Brahma) has a right to the Grandfather’s inheritance, in the same way, the grandchildren also have a right. The Father says: Remember Me! I don’t tell you to remember this bodily being. The Father is speaking personally to you. He explained to you in the same way in the previous cycle too. You receive the inheritance from BapDada. It isn’t that you receive it from Mama. You become very body conscious. You also have love for bodily beings. O souls, you came bodiless and then, having played your part s, you have now completed your 84 births. I now tell you: You have to go back home. Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Your sins won’t be absolved by remembering bodily beings. You made a promise: Baba, I will remember You alone. You don’t want to stay in this old world any more. There is no comfort in it. This is why you say: Take us to a place where there is happiness and comfort. You say that you will first go to the land of peace, where there will be nothing but peace. You will go to the land of happiness from there, where you will have both peace and happiness. When there is sorrow, there is peacelessness. There is peace in happiness anyway, but that is not peace. The land of peace is the sweet home of souls. The Father is the One who has the whole knowledge of the beginning, middle and end. It is now the business of you children to study and teach others. You also have to perform actions for the livelihood of your bodies. You know that you will go from this land of death to the land of immortality via the land of peace. You have to keep this in your intellects. You have to study until you die. You can at least remember this much! You now have to go to your home.You have to renounce this world and everything within it; there should also be happiness. You have understood the secrets of this unlimited play. When a limited play ends, they change their costumes and return home. In the same way, we too now have to go back. The cycle of 84 births is now coming to an end. People remember: O Purifier, come! You only remember Shiv Baba. On the one hand, they say: O Purifier, come! On the other hand, they say that God is omnipresent. There is no meaning to that. It has been explained to you children so well that you should remember the land of peace. This is the land of sorrow. None of the gurus would be able to say this. Only you Brahmins would say this. Destruction of this land of sorrow is just ahead. This is the same Mahabharat War. There are the Yadavas, the residents of Europe, and also the brothers, the Kauravas and the Pandavas. They all belong to the same home. There cannot be a war between brothers. There is no question of a war in this. This too is a wonder. What can people not do! They make up stories about what has not even happened and spoil each other’s heart. Look what the business of god Vyas is! The business of people is to make one another fight. That is a system. They all become enemies of one another. Even a child becomes an enemy of his father. Look what you have in your intellects and look what they have written in the scriptures! They (scriptures) are given so much respect. They even take them around a city, out of reverence. They even place idols of the deities in a chariot and take them around a city. They then put all of them in the sea. They all have their own customs and systems in the land of death. Look how huge the Father’s plan is! He finishes everyone’s plans and establishes the land of happiness. He sends everyone else to the land of peace. Look at whom you children are sitting in front of. You have the faith that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He is giving us knowledge through these organs. Would there be any other such spiritual gathering? The Father is now sitting in front of you and explaining to you. You know that the Father is speaking to us souls and that we are listening through these ears. Baba is speaking through the mouth of this Dada. The jewels that emerge through Baba’s mouth are the jewels that should emerge through your mouths. While hearing useless things, you mustn’t listen to them. Some happily sit and listen to such things. Baba says: Don’t listen to such things. Become merciful and if anyone has any old habits, you should help finish them. You shouldn’t just agree with them and listen. We will not listen to defamation of Baba who makes us into the masters of the land of happiness. We should claim our inheritance from Shiv Baba. What connection do we have with anything else? Whether others listen to you or not, you should at least apply the ointment of knowledge. Some apply the ointment of knowledge and others apply the ointment of dust. The third eye doesn’t open through that. Baba explains to you so easily that anyone who is diseased, blind or hunchbacked would be able to understand. There are just the two words: Alpha and beta. Simply ask them: What is your relationship with the Supreme Father and with Prajapita Brahma? This is the best question of all. Then the notion of omnipresence would be completely thrown out. Stay friendly with your friends and relatives and explain to them. Become very sweet. It is your duty to give the introduction. Stay friendly with even your enemies. The Father says: You have followed devilish directions and defamed Me. You have defamed God and yet God uplifts you so much. For God to be defamed is also fixed in the drama. This is why it is said: Whenever there is extreme irreligiousness, I come. I have come in Bharat. He is explaining to you children. Everything has to be understood very well. If it is not in anyone’s fortune, he continues to carry on with the same behaviour. As soon as they leave here, they forget everything they have heard here. This has become your condition by defaming God. Now stop defaming Him. Don’t just become a pundit. You are true Raja Yogis. Explain in this way so that the arrow can strike the target. If there are weaknesses in you, you cannot say anything to anyone. The sin inside will continue to make your conscience bite. Baba explains everything very well. He explained in the same way in the previous cycle too. Don’t forget it. While remembering Him, your final thoughts will lead you to your destination. Wake up early in the morning and remember the Father so that at the end you won’t even remember your own body. I am a soul. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The jewels that emerge from the Father’s mouth are the jewels that should emerge from your mouth. Don’t speak about or listen to wasteful matters. Only the ointment of knowledge should be used.
  2. Have true friendship with everyone. Be very sweet and cheerful as you give the Father’s introduction. Become the same as the Father and uplift even those who defame you.
Blessing: May you be a master bestower and, as a world benefactor, give the donation of peace to peaceless souls.
There is upheaval and fighting in the world. At such a time of peacelessness, become master bestowers of peace and give peace to others. Do not be afraid because you know that whatever is happening is good and whatever is to happen will be even better. People who are influenced by the vices will continue to fight. That is their duty, but you world benefactor souls have to be constant master bestowers of peace and continue to donate peace. This is your service.
Slogan: Keep all your attainments in front of you and weaknesses will easily finish.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 1 July 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 3 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 2 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

03/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – किसी देहधारी से दैहिक लव न रख, एक बाप से लव रखो, अशरीरी बनने का पूरा-पूरा अभ्यास करो”
प्रश्नः- रहमदिल बच्चों का कर्तव्य क्या है?
उत्तर:- जब कोई फालतू बात करे तो उसकी फालतू बात न सुन उनके कल्याण अर्थ बड़ों को सुनाना – यह रहमदिल बच्चों का कर्तव्य है। जिनमें कोई पुरानी आदतें हैं उन्हें मिटाने में सहयोगी बनना ही रहमदिल बनना है।
प्रश्नः- कौन सा टाइटिल किसी देहधारी को नहीं दे सकते लेकिन ब्रह्मा बाप को दे सकते हैं?
उत्तर:- श्री का टाइटिल क्योंकि श्री अर्थात् श्रेष्ठ पवित्र को कहा जाता है। किसी देहधारी मनुष्य को यह टाइटिल दे नहीं सकते क्योंकि भ्रष्टाचार से जन्म लेते हैं। ब्रह्मा बाप को श्री कहते क्योंकि इनका यह अलौकिक जन्म है।
गीत:- इस पाप की दुनिया से….

ओम् शान्ति। बच्चे अब समझ गये हैं अर्थात् समझदार बन गये हैं, तो जरूर पहले बेसमझ थे। यह भी नहीं समझ में आता है कि यह पतित दुनिया है और इस भारत में ही देवी देवताओं का राज्य था, उसमें पावन सुखी थे। उसमें दु:ख की बात नहीं थी। परन्तु शास्त्रों में कई बातें सुनने के कारण यह भी समझ में नहीं आता है कि स्वर्ग में सदैव सुख था। स्वर्ग का किसको पता नहीं। समझते हैं वहाँ भी दु:ख था, यह है बेसमझी। अब तुम बच्चे समझदार बने हो। बाप ने आकर समझाया है, उनकी श्रीमत पर चल रहे हो। यह पतित दुनिया है, स्वर्ग पावन दुनिया थी। पावन दुनिया में भी दु:ख हो फिर तो दु:ख की दुनिया ही कहेंगे। फिर गीत भी रांग हो जाता है। कहते भी हैं हे बाबा ऐसी जगह ले चलो जहाँ आराम सुख चैन हो। बच्चे यह भी जानते हैं कि स्वर्ग सोने की चिड़िया थी। देवी-देवतायें थे। कभी भी किसको दु:ख नहीं देते थे। गाते भी हैं फिर भी शास्त्रों में ऐसी बातें लिखी हैं जो समझते हैं यह परम्परा से चला आता है। कृष्ण पर भी झूठे कलंक लगा दिये हैं। कहा जाता है जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि। समझते हैं सारी सृष्टि ही पतित है। इस समय उन्हों की दृष्टि ही पतित है तो सारी सृष्टि को ही पतित समझते हैं। समझते हैं परम्परा से पतितपना चला आया है। अभी तुम बच्चों में समझ आती जा रही है, सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। परमपिता परमात्मा के बच्चों को डायरेक्शन मिलते हैं। आत्माओं को बैठ बाप समझाते हैं। सभी आत्मायें पतित हैं इसलिए पतित आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है। बाप आत्माओं से बैठ बात करते हैं। तुम हमारे अविनाशी बच्चे हो, फिर मम्मा बाबा भी कहते हो। इस दुनिया में किसी को भी पिताश्री नहीं कह सकते। श्री माना श्रेष्ठ। एक भी मनुष्य श्रेष्ठ है नहीं। यह तो एक की ही महिमा हो सकती है। यहाँ तो सब भ्रष्टाचार से ही पैदा होते हैं, इसलिए श्री कह नहीं सकते। भल तुम इनको इस समय कहते हो क्योंकि सन्यास किया हुआ है – श्रेष्ठ बनने के लिए। तुम जानते हो कि अभी हम फरिश्ते बनने वाले हैं। भ्रष्ट को श्री कह नहीं सकते। श्री लक्ष्मी, श्री नारायण, श्री राधे, श्री कृष्ण कहते हैं। मन्दिरों में भी उन्हों की महिमा गाते हैं। अपने को श्रेष्ठ कह नहीं सकते। अब तुम बच्चों ने समझा है भारत श्रेष्ठ था, शुद्ध सृष्टि थी। अभी पतित सृष्टि है, पतित को ही भ्रष्टाचारी कहेंगे। वे लोग भ्रष्टाचारियों को श्रेष्ठ बनाने के लिए सभायें करते हैं। परन्तु दुनिया ही भ्रष्टाचारी है तो कोई किसी को श्रेष्टाचारी बना कैसे सकते।

बरोबर यह रावण राज्य है। जिस कारण रावण को वर्ष-वर्ष जलाते हैं। जलता ही नहीं, फिर खड़ा हो जाता है। यह भी मनुष्यों को समझ में नहीं आता, जिसे जला दिया उसे फिर हम नया क्यों बनाते हैं। इससे सिद्ध होता है कि रावणराज्य गया नहीं है। स्वर्ग में जब रामराज्य होता है वहाँ तो एफीजी निकालेंगे नहीं। कहते हैं रावण को जलाया फिर लंका को लूटा। रावण की लंका सोनी बताते हैं। परन्तु ऐसा है नहीं। यह तो सारी दुनिया लंका है। रावणराज्य में तो सब हैं, वह श्रीलंका तो आइलैण्ड है ना। दिखलाया भी है – भारत की पुछड़ी है। परन्तु सिर्फ उसमें रावण राज्य तो नहीं है ना। रावणराज्य तो सारे विश्व पर है, यह भी तुम समझते हो। कॉलेज में कोई बेसमझ जाकर बैठे तो क्या समझ सकेंगे! कुछ भी नहीं। वेस्ट ऑफ टाइम करेंगे। यह ईश्वरीय कॉलेज है, इसमें नया आदमी कुछ समझ नहीं सकेंगे। 7 दिन क्वारनटाइन में बिठाना पड़े, जब तक लायक बनें। फिर भी अच्छा आदमी रिलीजस माइन्डेड हो तो उनसे पूछना है – परमपिता परमात्मा तुम्हारा क्या लगता है? वह तो है आत्माओं का पिता और प्रजापिता भी तो बाप है। यह प्वाइंट्स बड़ी अच्छी हैं परन्तु बच्चे अजुन इतना हर्षित नहीं होते हैं। बाप कहते हैं तुमको नई-नई प्वाइंट्स सुनाता हूँ जिससे तुमको नशा चढ़े। किसको समझाने की युक्ति आये। फार्म भराने की कॉपी में पहले यह प्रश्न लिखाना है – कहेंगे परमपिता, तो पिता हुआ ना। फिर उस समय सर्वव्यापी का ज्ञान उड़ जायेगा। तुम जब प्रश्न पूछेंगे तो कहेंगे वह तो बाप है। हम सब बच्चे हैं। इतना मान जायें तो झट लिखा लेना चाहिए। प्रजापिता के भी बच्चे ठहरे। शिव हो गया दादा और वह बाप। शिवबाबा तो स्वर्ग की स्थापना करने वाला है तो जरूर उनसे ही वर्सा मिलेगा। सहज से सहज बातें निकालनी पड़ती हैं। बहुत सहज है। मित्र सम्बन्धियों के पास भी जाओ उनको भी यह समझाओ। यह तो नशा है ना – हम बाबा द्वारा दादे से वर्सा पाते हैं। बापदादा से वर्सा पाते हैं, माता से वर्सा नहीं मिलेगा। बाप को ही स्वर्ग की स्थापना करनी है ना। वही मालिक है। जैसे उनको दादे से वर्से का हक है, वैसे पोत्रे पोत्रियों को भी हक है। बाप कहते हैं मुझे याद करो। मैं तो कहता नहीं हूँ कि इस देहधारी को याद करो। बाप सम्मुख बात कर रहे हैं। कल्प पहले भी ऐसे ही समझाया था। वर्सा भी तुमको बापदादा द्वारा मिलता है। ऐसे नहीं कि मम्मा से मिलता है। तुमको देह-अभिमान बहुत आ जाता है। देहधारियों से लव हो जाता है। हे आत्मायें तुम नंगी आई थी फिर पार्ट बजाते-बजाते अब 84 जन्म पूरे किये हैं। अभी मैं कहता हूँ तुमको वापिस चलना है। मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। देहधारी को याद करने से विकर्म विनाश नहीं होंगे। तुम अन्जाम करते हो बाबा हम आपको ही याद करेंगे। तुमको इस पुरानी दुनिया में अब रहना ही नहीं है, इसमें कोई चैन नहीं इसलिए कहते हो-ऐसी जगह ले चलो जहाँ सुख चैन मिले। तुम कहते हो हम पहले जायेंगे शान्तिधाम, जहाँ शान्ति ही शान्ति होगी। फिर जायेंगे वहाँ से सुखधाम में, जहाँ शान्ति-सुख दोनों हैं। जब दु:ख है तो अशान्ति है। सुख में तो शान्ति है ही। परन्तु वह शान्ति नहीं। शान्तिधाम है आत्माओं का स्वीट होम। बाप सारे आदि-मध्य-अन्त को जानने वाला है।

अब तुम बच्चों का धन्धा ही है पढ़ना और पढ़ाना और अपने शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है। तुम जानते हो हम इस मृत्युलोक से अमरलोक में चले जायेंगे वाया शान्तिधाम। यह बुद्धि में याद रखना है। जब तक मृत्यु नहीं हुआ है, पढ़ना ही है। यह तो याद कर सकते हो ना। अब हमको जाना है अपने घर। यह दुनिया, यह सब कुछ छोड़ना है, खुशी होनी चाहिए। यह बेहद के नाटक का राज़ भी समझ गये हो। हद का नाटक पूरा होता है तो कपड़े बदली कर घर चले जाते हैं। वैसे अब हमको भी जाना है। 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है। याद भी करते हैं हे पतित-पावन आओ। याद शिवबाबा को ही करेंगे। एक तरफ कहते पतित-पावन आओ, दूसरे तरफ कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है। कोई अर्थ ही नहीं निकलता। बच्चों को कितनी अच्छी रीति समझाते हैं कि शान्तिधाम को याद करो यह दु:खधाम है। और गुरू गोसाई को यह कहना आयेगा नहीं, सिवाए तुम ब्राह्मण ब्राह्मणियों के। इस दु:खधाम का विनाश भी सामने खड़ा है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। यूरोपवासी यादव भी हैं और कौरव पाण्डव भाई-भाई भी हैं। एक ही घर के हैं ना। भाई-भाई में युद्ध हो नहीं सकती। यहाँ युद्ध की बात ही नहीं। यह भी वन्डर है ना। मनुष्य क्या नहीं कर सकता है। जो बातें हुई ही नहीं, वह भी बना-बना कर एक दो की दिल को खराब कर देते हैं। व्यास भगवान का धन्धा भी देखो कैसा है। मनुष्यों का धन्धा है एक दो को लड़ाना। यह तो एक रसम है। सब एक दो के दुश्मन बनते हैं। बच्चे भी बाप का दुश्मन बन पड़ते हैं। अब तुम्हारी बुद्धि में देखो क्या है और शास्त्रों में देखो क्या-क्या लिख दिया है। उनका फिर मान कितना रखते हैं। बड़ी परिक्रमा दिलाते हैं। देवताओं की मूर्तियों को भी रथ पर बिठाए बड़ी परिक्रमा दिलाते हैं। फिर सबको समुद्र में डाल देते हैं। मृत्युलोक की रसम-रिवाज सबकी अपनी-अपनी है। बाप का प्लैन देखो कितना बड़ा है। सबके प्लैन खत्म कर देते और सुखधाम की स्थापना करते हैं। बाकी सबको शान्तिधाम में भेज देते हैं। तुम बच्चे देखो किसके सामने बैठे हो। निश्चय है – परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर है। इन आरगन्स द्वारा हमको नॉलेज दे रहे हैं। और कोई ऐसा सतसंग होगा क्या? अभी बाप सामने बैठ समझाते हैं। जानते हो बाप हम आत्माओं से बात करते हैं, हम कानों से सुनते हैं। बाबा इस दादा के मुख द्वारा बोलते हैं। जो रत्न बाबा के मुख से निकलते हैं, वही तुम बच्चों के मुख से निकलने चाहिए। फालतू बातें सुनते भी नहीं सुननी हैं। कोई तो बैठ खुशी से सुनते हैं। बाबा कहते ऐसी बातें सुनो मत। रहमदिल बन किसमें कोई पुरानी आदत है तो मिटानी चाहिए। हाँ जी कर सुनना नहीं चाहिए। जो बाबा सुखधाम का मालिक बनाते हैं, ऐसे बाबा की ग्लानी तो हम सुनेंगे नहीं। हमको तो शिवबाबा से वर्सा लेना चाहिए। और बातों से हमारा क्या तैलुक। कोई सुने या न सुने हम तो ज्ञान का शुर्मा पहन लेवें। कोई ज्ञान अंजन लगाते, कोई धूल अंजन लगा लेते हैं। उससे तीसरा नेत्र खुलता नहीं। बाबा कितना सहज कर समझाते हैं। जो कैसे भी रोगी, अन्धा कुब्जा है वह भी समझ जाये। अल्फ और बे दो अक्षर हैं। सिर्फ पूछो परमपिता और प्रजापिता ब्रह्मा से आपका क्या सम्बन्ध है? यह प्रश्न सबसे अच्छा है। तो सर्वव्यापी का ज्ञान एकदम बाहर निकल जाए। मित्र सम्बन्धियों से दोस्ती कर उन्हें समझाओ। बहुत मीठा बनो। तुम्हारा काम है परिचय देना। भल दुश्मन हो परन्तु उनसे भी मित्रता रखनी है। बाप कहते हैं तुमने आसुरी मत पर चल मुझे गाली दी है। तुमने ईश्वर पर अपकार किया है फिर भी ईश्वर तुम पर कितना उपकार करते हैं। ईश्वर का अपकार होना भी ड्रामा में नूँध है, तब तो कहते हैं यदा यदाहि धर्मस्य… आया भी भारत में है। समझा भी रहे हैं बच्चों को। हर एक बात अच्छी रीति समझने की है। किसकी तकदीर में नहीं है फिर भी वही धन्धा करते हैं। यहाँ से बाहर गये तो यह बातें भी भूल जायेंगी। निंदा करते-करते तो यह हाल हो गया है। अब निंदा करना बन्द करो, सिर्फ पण्डित भी नहीं बनना है।

तुम पक्के राजयोगी हो। ऐसे-ऐसे समझाओ तो तीर भी लगे। खुद में खामी होगी तो दूसरे को बोल नहीं सकेंगे। पाप अन्दर खाता रहेगा। बाबा हर बात बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। कल्प पहले भी ऐसे ही समझाया था, भूलो मत। सिमरण करते-करते अन्त मती सो गति हो जायेगी। सवेरे उठ बाप को याद करो जो अन्त में देह भी याद न पड़े। हम आत्मा हैं। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जो रत्न बाप के मुख से निकलते हैं वही अपने मुख से निकालने हैं। व्यर्थ बातें नहीं बोलनी हैं, न सुननी है। ज्ञान का ही शुर्मा पहनना है।

2) सभी से सच्ची मित्रता रखनी है। बहुत मीठे रूप में, हर्षितमुख हो बाप का परिचय देना है। अपकारी पर भी बाप समान उपकारी बनना है।

वरदान:- विश्व कल्याणकारी बन अशान्त आत्माओं को शान्ति का दान देने वाले मास्टर दाता भव 
दुनिया में हंगामा हो, झगड़े हो रहे हो, ऐसे अशान्ति के समय पर आप मास्टर शान्ति दाता बन औरों को भी शान्ति दो, घबराओ नहीं क्योंकि जानते हो जो हो रहा है वो भी अच्छा और जो होना है वह और अच्छा। विकारों के वशीभूत मनुष्य तो लड़ते ही रहेंगे। उनका काम ही यह है लेकिन आप विश्व कल्याणकारी आत्मायें सदा मास्टर दाता बन शान्ति का दान देते रहो। यही आपकी सेवा है।
स्लोगन:- अपनी सर्व प्राप्तियों को सामने रखो तो कमजोरियाँ सहज समाप्त हो जायेंगी।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 1 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 30 June 2017 :- Click Here

 

 
Font Resize