daily murli 3 february

TODAY MURLI 3 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

03/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give everyone the message that the Father’s order is: Become pure in this most elevated confluence age and you will receive the inheritance of the golden age.
Question: What easy deal should you tell everyone about?
Answer: Follow the Father’s directions in this final birth and become pure and you will receive the sovereignty of the world for 21 births. This is a very easy deal to make. Teach everyone how to make this deal. Tell them: Now remember Shiv Baba and become pure and you will become the masters of the pure world.

Om shanti. You spiritual children know that the spiritual Father explains that you have to tell people at the exhibitions and melas (gatherings) where you have a show and explain the pictures that they now have to claim their unlimited inheritance from the Father. Which inheritance? You have to explain how human beings become deities and how they can claim the kingdom of heaven from the unlimited Father for half the cycle. The Father is the Businessman and you have to make this bargain with Him. People know that deities are pure. When it was the golden age in Bharat, the deities were pure. They must definitely have attained something to go to heaven. No one but the Father who establishes heaven can enable you to attain anything. Only the Purifier Father purifies the impure and gives them the kingdom of the pure world. He offers you such an easy bargain! He simply says: This is your final birth. While I am here, become pure. I have come to purify you. Make effort to become pure in this last birth and you will claim the inheritance of the pure world. This bargain is very inexpensive. Baba had the thought that children should explain that this is the Father’s order: Become pure! This is the most elevated confluence age in which you have to become pure. Deities are the most elevated beings. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. You can receive the deity world sovereignty from the Father as an inheritance only if you become pure in this final birth according to the Father’s directions. He also shows you the ways how to become satopradhan from tamopradhan with the power of yoga. You children have to spend something in order to bring benefit. A kingdom cannot be established without spending anything. The kingdom of Lakshmi and Narayan is now being established. You children definitely do have to become pure. Don’t perform any wrong actions in your thoughts, words or deeds. Deities never have bad thoughts. They never speak bad words through their lips. They are full of all virtues, completely viceless, the most elevated beings who follow the highest code of conduct. Praise is sung of those who have been and gone. I have now come to make you children into those deities. Therefore, you mustn’t perform any bad actions with your thoughts, words or deeds. Deities are completely viceless. You can imbibe these virtues now because this is your final birth in this land of death. The impure world is called the land of death and the pure world is called the land of immortality. The destruction of the land of death is now in front of you. The land of immortality must definitely be established. This is the same Great Mahabharat War that has been portrayed in the scriptures in which the old vicious world was destroyed. However, no one has this knowledge. The Father says: All are sleeping in the sleep of ignorance. They are intoxicated by the five vices. The Father says: Now become pure! You will become master gods, will you not? Lakshmi and Narayan are called a goddess and god, that is, they received their inheritance from God. Bharat is now impure. Everyone’s thoughts, words and deeds are likewise. Something first enters the intellect and then emerges in words. When they are put into actions those actions become sinful. The Father says: There are no sinful actions there. There are sinful actions here because this is the kingdom of Ravan. The Father says: Remain pure for the rest of your life. You have to promise to remain pure and connect your intellects in yoga with Me so that your sins of many births can be cut away. Only then will you become the masters of heaven for 21 births. The Father offers this. That One explains that this is the inheritance that the Father gives through this one. That One is Shiv Baba and this one is Dada. This is why we are always called BapDada: Shiv Baba and Brahma Dada. The Father offers you such a deal! Destruction of the land of death is in front of you. The land of immortality is being established. Fairs and exhibitions are arranged so that the people of Bharat can benefit. The Father comes and creates the kingdom of Rama (God) in Bharat. There will definitely only be pure people in the kingdom of Rama. The Father says: Children, lust is the greatest enemy. These five vices are called Maya. By conquering them you will become conquerors of the world. Deities are conquerors of the world. No one else can become conquerors of the world. Baba explains that if the Christians were to come together, they could gain the kingdom of the whole world. However, that isn’t the law. Those bombs are to destroy the old world. Every cycle the world becomes old from new and then new from old. In the new world, there is the kingdom of God which is called the kingdom of Rama. Because of not knowing who God is, they just continue to chant Rama’s name. You children have to imbibe these things. We really did have to become tamopradhan from satopradhan over 84 births. We now definitely have to become satopradhan again. Shiv Baba has given you directions and you will claim a high status in the pure world for 21 births by following them. Now, whether you make effort or not, whether you stay in remembrance and show others the path or not, is up to you. You children show many people the path in the exhibitions. You also have to benefit yourselves. This bargain is very inexpensive. By remaining pure in this last birth, by staying in remembrance of Shiv Baba, you will become satopradhan from tamopradhan. This bargain is so inexpensive! Your whole life changes. You must think in this way. Baba received news that when some children went to “tie rakhi”, someone said that it was impossible to remain pure at this time when the world is tamopradhan. Those poor helpless ones don’t even know that it is now the confluence age. Only the Father purifies you. Your Helper is the Supreme Father, the Supreme Soul. They don’t understand how huge the temptation given here is. By becoming pure, you will become the masters of the pure world. The Father says: By conquering Maya, the five vices, you will become conquerors of the world. So, why should you not become pure? This is a first-class deal. The Father says: Lust is the greatest enemy. By conquering this you will become pure. Those who conquer Maya become conquerors of the world. This is a matter of conquering Maya with the power of yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and says to souls, the spirits: Remember Me and the alloy will be removed. You will then become the masters of the satopradhan world. The Father gives you your inheritance at the confluence age. Lakshmi and Narayan were the most elevated beings. Only they are called the most elevated beings who follow the highest code of conduct and those who belong to the deity religion. Everything is explained to you very well, but these points are sometimes forgotten. Then, after your lecture, you remember that you didn’t explain certain points. There are many points you can explain. It does happen like that. Even lawyers sometimes forget points. Then, if they remember a point later, they start their case again. It is the same for doctors. They consider whether a certain medicine is good for a particular illness. Here, too, you have many points. Baba says: I am explaining deep points to you today. However, all of those who should understand these things are impure. They say: O Purifier! Then, when you tell them something, they become upset. They speak the truth in front of God: O Purifier, come! Come and purify us! They forget God and tell lies, and this is why you have to explain to them with tact, so that the snake dies but the stick doesn’t break. The Father says: Pick up a virtue from mice: a mouse bites you in such a clever way that, even though you start to bleed, you don’t realize it at all. All of these points should remain in the intellects of you children. Those who stay in yoga receive help at the right time. It is possible that those who are given this knowledge are loved more by the Father than those who relate this knowledge. The Father then sits and explains to them Himself. Explain to them in such a way that they feel it is good to become pure. By remaining pure for this one birth, you will become the masters of the pure world for 21 births. God speaks: Become pure for this final birth and I guarantee that, according to the dramaplan, you can claim the inheritance for 21 births. You claim this inheritance every cycle. Those who are interested in serving will feel that they should go and explain. You have to run everywhere to do this. The Father is the Ocean of Knowledge. He continues to shower this knowledge so much. Souls who are pure are able to imbibe this. Their names are glorified. You can tell what type of service someone does at the exhibitions and melas. Teachers should go and see how some explain to others. Generally, it is very good to explain the pictures of Lakshmi and Narayan and the ladder. You become like Lakshmi and Narayan through the power of yoga. Lakshmi and Narayan are Adi Devi and Adi Dev. Both Lakshmi and Narayan are included in the four armed image; two arms are Lakshmi’s and two are Narayan’s. The people of Bharat don’t even understand this much. Mahalakshmi has four arms. This means she represents a couple. Vishnu is also four-armed. It is explained at the exhibitions every day. Even the chariot has been shown. They say that Arjuna was sitting in a chariot and that Krishna was his charioteer. All of those are tall stories. These are now aspects of knowledge. They show the urn of the nectar of knowledge on the head of Lakshmi. In fact, the urn of the nectar of knowledge is kept on the world mother (Jagadamba), who then becomes Lakshmi. This too has to be explained. People in the golden age belong to one religion and have one opinion; deities have one opinion. No one, apart from the deities, should be called “Shri” (elevated). Baba was thinking that, in order to make people understand, there should be fewer words. In this last birth, you will become rulers of the kingdom of Rama by gaining victory over the five vices. This is an inexpensive bargain. The Father comes and donates the imperishable jewels of knowledge. The Father is the Ocean of Knowledge and He alone gives you jewels of knowledge. In the court of Indra, there are the angels (Pukhraj, Sabaj etc); they are all helpers. There are several types of jewel. That is why they have shown nine jewels. It is true that those who study well will attain such a status; all are numberwise. This is the time to make effort. You children understand that you become the beads of the Father’s rosary. The more you remember Shiv Baba, the more you race forward on the pilgrimage of remembrance, the more quickly your sins will be absolved. This study is not complicated. You only have to remain pure. You also have to imbibe divine virtues. Stones should never emerge from your mouths. Those who throw stones will become those with stone intellects. Only those from whose mouths jewels emerge will attain a high status. This is very easy. Explain to the students that the Purifier, the Bestower of Liberation and Liberation in Life for all, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva says: O people of Bharat, spiritual children, by remaining pure in your final birth in this kingdom of Ravan, the land of death, the iron age, through the pilgrimage of yoga power of the intellect with the Supreme Father, the Supreme Soul, you will become satopradhan from tamopradhan. You will once again be able to attain, in the satopradhan golden age, the status of deity self-sovereignty which is full of purity, happiness, peace and prosperity exactly as you did 5000 years ago. However, the Father teaches us and gives us our inheritance before the actual great destruction. The more you study, the higher the status you will attain. He will take us back with Him. Therefore, we should not be concerned about these old bodies and the old world. It is now time for you to leave the old world. It is very good if your intellects churn such aspects. By making effort you will make progress and the time will come when you will not choke. You can see that the world is about to be destroyed. Therefore, we should connect our intellects in yoga. You receive help by doing service. The more you show others the path to happiness, the more happiness you will experience. You continue to make effort. You are able to see your fortune. The Father teaches you how to make effort. Some become busy in this, whereas others don’t. You understand that millionaires and multimillionaires will be destroyed just like that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status, constantly allow just jewels of knowledge to emerge from your mouth. Perform such actions with your thoughts, words and deeds that you become an elevated being who follows the highest code of conduct.
  2. Promise to become pure in this last birth. Tell everyone the way to become pure.
Blessing: May you be unshakeable and immovable and pick up virtues from others by constantly having benevolent feelings.
In order to make your stage unshakeable and immovable, be one who constantly picks up virtues. If you pick up virtues in every situation, you will not fluctuate. To pick up virtues means to have benevolent feelings. To see virtues in defects means to pick up virtues. So, pick up virtues from even those who have defects. Just as other people are determined in their defects, so you must remain determined in your virtues. Become a customer of virtues, not of defects.
Slogan: Those who offer everything they have to the Father and become light are angels.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

03-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सबको यही पैगाम दो कि बाप का फरमान है – इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर पवित्र बनो तो सतयुग का वर्सा मिल जायेगा”
प्रश्नः- कौन सा सस्ता सौदा सबको बतलाओ?
उत्तर:- इस अन्तिम जन्म में बाप के डायरेक्शन पर चल पवित्र बनो तो 21 जन्मों के लिए विश्व की बादशाही मिल जायेगी, यह बहुत सस्ता सौदा है। यही सौदा करना तुम सबको सिखलाओ। बोलो, अब शिवबाबा को याद कर पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया का मालिक बनेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे जानते हैं, रूहानी बाप समझाते हैं कि प्रदर्शनी वा मेले में शो दिखलाते हैं या चित्रों पर मनुष्यों को समझाते हैं कि बाप से अब बेहद का वर्सा लेना है। कौन सा वर्सा? मनुष्य से देवता बनने का अथवा बेहद के बाप से आधाकल्प के लिए स्वर्ग का राज्य कैसे लेना है, यह समझाने का है। बाप सौदागर तो है ही, उनसे यह सौदा करना है। यह तो मनुष्य जानते हैं कि देवी-देवतायें पवित्र रहते हैं। भारत में जब सतयुग था तो देवी-देवता पवित्र थे। जरूर उन्होंने कोई प्राप्ति की होगी स्वर्ग के लिए। स्वर्ग की स्थापना करने वाले बाप बिगर कोई भी प्राप्ति करा न सके। पतित-पावन बाप ही पतितों को पावन बनाए पावन दुनिया का राज्य देने वाला है। सौदा कितना सस्ता देते हैं। सिर्फ कहते हैं यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। जब तक मैं यहाँ हूँ, पवित्र बनो। मैं आया हूँ पवित्र बनाने। तुम इस अन्तिम जन्म में पावन बनने का पुरूषार्थ करेंगे तो पावन दुनिया का वर्सा लेंगे। सौदा तो बड़ा सस्ता है। तो बाबा को विचार आया बच्चों को ऐसे समझाना चाहिए कि बाप का फरमान है – पवित्र बनो। यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, जो पवित्र बनने का है। उत्तम से उत्तम पुरूष हैं ही देवतायें। लक्ष्मी-नारायण का राज्य चला है ना। डीटी वर्ल्ड सावरन्टी तुमको बाप से वर्से में मिल सकती है। बाप की मत पर यह अन्तिम जन्म पवित्र बनेंगे तो यह भी युक्ति बतलाते हैं कि योग-बल से अपने को तमोप्रधान से सतोप्रधान कैसे बनाओ। बच्चों को कल्याण लिए खर्चा तो करना ही है। खर्चे बिगर राजधानी स्थापन नहीं हो सकती। अभी लक्ष्मी-नारायण की राजधानी स्थापन हो रही है। बच्चों को पवित्र जरूर बनना है। मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई भी उल्टा-सुल्टा काम नहीं करना है। देवताओं को कभी कोई खराब ख्याल भी नहीं आता। मुख से ऐसा कोई वचन नहीं निकलता। वह हैं ही सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी, मर्यादा पुरूषोत्तम…। जो होकर जाते हैं उन्हों की महिमा गाई जाती है। अब तुम बच्चों को भी वही देवी-देवता बनाने आया हूँ। तो मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई भी ऐसा बुरा काम नहीं करना है। देवतायें सम्पूर्ण निर्विकारी थे, यह गुण भी तुम अभी धारण कर सकते हो क्योंकि इस मृत्युलोक में तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। पतित दुनिया को मृत्युलोक, पावन दुनिया को अमरलोक कहा जाता है। अभी मृत्युलोक का विनाश सामने खड़ा है। जरूर अमरपुरी की स्थापना होती होगी। यह वही महाभारी महाभारत लड़ाई है, जो शास्त्रों में दिखाई हुई है, जिससे पुरानी विशश वर्ल्ड खत्म होती है। परन्तु यह ज्ञान कोई में है नहीं। बाप कहते हैं सब अज्ञान नींद में सोये पड़े हैं। 5 विकारों का नशा रहता है। अब बाप कहते हैं पवित्र बनो। मास्टर गॉड तो बनेंगे ना। लक्ष्मी-नारायण को गॉड-गॉडेज कहते हैं अर्थात् गॉड द्वारा यह वर्सा पाया है। अभी तो भारत पतित है। मन्सा-वाचा-कर्मणा कर्तव्य ही ऐसे चलते हैं। कोई भी बात पहले बुद्धि में आती है फिर मुख से निकलती है। कर्मणा में आने से विकर्म बन जाता है। बाप कहते हैं वहाँ कोई विकर्म होता नहीं। यहाँ विकर्म होते हैं क्योंकि रावण राज्य है। अब बाप कहते हैं बाकी जो आयु है पवित्र बनो। प्रतिज्ञा करनी है, पवित्र बन और फिर मेरे साथ बुद्धि का योग भी लगाना है, जिससे तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भी कट जायें, तब ही तुम 21 जन्म के लिए स्वर्ग के मालिक बनेंगे। बाप ऑफर करते हैं, यह तो समझाते रहते हैं कि इन द्वारा बाप यह वर्सा देते हैं। वह है शिवबाबा, यह है दादा इसलिए हमेशा कहते ही हैं बापदादा। शिवबाबा ब्रह्मा दादा। बाप कितना सौदा करते हैं। मृत्युलोक का विनाश सामने खड़ा है। अमरलोक की स्थापना हो रही है। प्रदर्शनी मेला करते ही इसलिए हैं कि भारतवासियों का कल्याण हो। बाप ही आकर भारत में रामराज्य बनाते हैं। रामराज्य में जरूर पवित्र ही होंगे। बाप कहते हैं बच्चे काम महाशत्रु है। इन 5 विकारों को ही माया कहा जाता है। इन पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। जगतजीत हैं ही देवी-देवतायें और कोई जगतजीत बन नहीं सकते। बाबा ने समझाया था – क्रिश्चियन लोग अगर आपस में मिल जायें तो सारी सृष्टि की राजाई ले सकते हैं। परन्तु लॉ नहीं है। यह बॉम्ब्स है ही पुरानी दुनिया को खत्म करने के लिए। कल्प-कल्प ऐसे नई दुनिया से पुरानी, पुरानी से नई होती है। नई दुनिया में है ईश्वरीय राज्य, जिसको राम-राज्य कहा जाता है। ईश्वर को न जानने कारण ऐसे ही राम-राम जपते रहते हैं। तो तुम बच्चों के अन्दर में यह बातें धारण होनी चाहिए। बरोबर हम 84 जन्मों में सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हैं। अब फिर सतोप्रधान जरूर बनना है। शिवबाबा का डायरेक्शन है, अब उस पर चलेंगे तो 21 जन्म के लिए पवित्र दुनिया में ऊंच पद पायेंगे। अब चाहे पुरूषार्थ करें या न करें, चाहे तो याद में रह औरों को रास्ता बतायें, चाहें न बतायें। प्रदर्शनियों द्वारा बच्चे बहुतों को रास्ता बता रहे हैं। अपना भी कल्याण करना है। सौदा बड़ा सस्ता है। सिर्फ यह अन्तिम जन्म पवित्र रहने से, शिवबाबा की याद में रहने से तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। कितना सस्ता सौदा है। जीवन ही पलट जाता है। ऐसे-ऐसे विचार करना चाहिए। बाबा के पास समाचार आते हैं। राखी बांधने गये तो कोई-कोई ने कहा इस समय जबकि तमोप्रधान दुनिया है, इसमें पवित्र रहना – यह तो असम्भव है। उन बिचारों को पता नहीं पड़ता कि अभी संगमयुग है। बाप ही पवित्र बनाते हैं। इन्हों का मददगार परमपिता परमात्मा है। उनको यह पता ही नहीं कि यहाँ भीती बहुत भारी है। पवित्र बनने से पवित्र दुनिया का मालिक बनना होता है। बाप कहते हैं इन माया रूपी 5 विकारों पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। तो हम क्यों नहीं पवित्र बनेंगे। फर्स्टक्लास सौदा है। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। इन पर जीत पाने से तुम पवित्र बनेंगे। माया जीत जगतजीत। यह है योगबल से माया को जीतने की बात। परमपिता परमात्मा ही आकर रूहों को समझाते हैं कि मुझे याद करो तो खाद निकल जायेगी। तुम सतोप्रधान दुनिया के मालिक बन जायेंगे। बाप वर्सा देते हैं संगम पर। सबसे उत्तम पुरूष यह लक्ष्मी-नारायण थे, उन्हों को ही मर्यादा पुरूषोत्तम देवी-देवता धर्म वाला कहा जाता है। समझाया तो बहुत अच्छी रीति जाता है परन्तु कभी-कभी यह प्वाइंट्स भूल जाती हैं। फिर बाद में विचार आता है, भाषण में यह-यह प्वाइंट्स नहीं समझाई। समझाने की प्वाइंट्स तो बहुत हैं। ऐसे होता है। वकील लोग भी कोई-कोई प्वाइंट भूल जाते हैं। फिर जब वो प्वाइंट बाद में याद आती हैं तो फिर लड़ते हैं। डॉक्टर लोग का भी ऐसा होता है। ख्यालात चलती हैं – इस बीमारी के लिए यह दवाई ठीक है। यहाँ भी प्वाइंट तो ढेर हैं। बाबा कहते हैं आज तुमको गुह्य प्वाइंट समझाता हूँ। परन्तु समझने वाले हैं सब पतित। कहते भी हैं – हे पतित-पावन….. फिर किसको कहो तो बिगड़ जायेंगे। ईश्वर के सामने सच कहते हैं – हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। ईश्वर को भूल जाते तो फिर झूठ कह देते, इसलिए बड़ा युक्ति से समझाना है जो सर्प भी मरे लाठी भी न टूटे। बाप कहते हैं चूहे से गुण उठाओ। चूहा काटता ऐसी युक्ति से है जो खून भी निकलता है परन्तु पता बिल्कुल नहीं पड़ता। तो बच्चों की बुद्धि में सब प्वाइंट्स रहनी चाहिए। योग में रहने वालों को समय पर मदद मिलती है। हो सकता है सुनने वाला सुनाने वाले से भी जास्ती बाप का प्यारा हो। तो बाप खुद भी बैठ समझा देंगे। तो ऐसा समझाना है जो वह समझें पवित्र बनना तो बहुत अच्छा है। यह एक जन्म पवित्र रहने से हम 21 जन्म पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। भगवानुवाच – यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो तो हम गैरन्टी करते हैं, ड्रामा प्लैन अनुसार तुम 21 जन्म के लिए वर्सा पा सकते हो। यह तो हम कल्प-कल्प वर्सा पाते रहते हैं। सर्विस का जिनको शौक होगा वह तो समझेंगे कि हम जाकर समझायें। भागना पड़े। बाप तो है ज्ञान का सागर, वह कितनी ज्ञान की वर्षा करते रहते हैं। जिनकी आत्मा पवित्र है तो धारणा भी होती है। अपना नाम बाला कर दिखाते हैं। प्रदर्शनी मेले से पता पड़ सकता है, कौन कैसी सर्विस करते हैं। टीचर्स को जांच करनी चाहिए – कौन कैसे समझाते हैं। बहुत करके लक्ष्मी-नारायण वा सीढ़ी के चित्र पर समझाना अच्छा है। योगबल से फिर ऐसे लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण सो आदि देव, आदि देवी। चतुर्भुज में लक्ष्मी-नारायण दोनों आ जाते हैं। दो भुजायें लक्ष्मी की, दो नारायण की। यह भी भारतवासी नहीं जानते हैं। महालक्ष्मी की 4 भुजायें हैं, इसका मतलब ही है वे युगल हैं। विष्णु है ही चतुर्भुज।

प्रदर्शनी में तो रोज़-रोज़ समझाया जाता है। रथ को भी दिखाया है। कहते हैं अर्जुन बैठा था। कृष्ण रथ चलाने वाला था। यह सब हैं कथायें। अभी यह हैं ज्ञान की बातें। दिखाते हैं ज्ञान अमृत का कलष लक्ष्मी के सिर पर रखा है। वास्तव में कलष रखा है जगत अम्बा पर, जो फिर लक्ष्मी बनती है। यह भी समझाना पड़े। सतयुग में एक धर्म, एक मत के मनुष्य होते हैं। देवताओं की है ही एक मत। देवताओं को ही श्री कहा जाता है और किसको नहीं कहते। तो बाबा को ख्याल चल रहा था कि समझाने के लिए अक्षर थोड़े हो। इस अन्तिम जन्म में 5 विकारों पर जीत पाने से तुम रामराज्य के मालिक बनेंगे। यह तो सस्ता सौदा है। बाप आकर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान देते हैं। बाप है ज्ञान का सागर। वही ज्ञान रत्न देते हैं। इन्द्र सभा में कोई सब्जपरी, पुखराज परी भी हैं। हैं तो सब मदद करने वाले। जवाहरात में किस्म-किस्म के होते हैं ना इसलिए 9 रत्न दिखलाये हुए हैं। यह तो जरूर है जो अच्छी रीति पढ़ेंगे तो पद भी पायेंगे। नम्बरवार तो हैं ना। पुरूषार्थ करने का टाइम ही यह है। यह तो बच्चे समझते हैं हम बाप की माला के दाने बनते हैं। जितना शिवबाबा को याद करेंगे उतना हम जैसेकि याद की यात्रा में दौड़ी पहनते हैं। पाप भी जल्दी विनाश होंगे।

यह पढ़ाई कोई लम्बी-चौड़ी नहीं है सिर्फ पवित्र रहना है। दैवीगुण भी धारण करने हैं। मुख से कभी पत्थर नहीं निकालने चाहिए। पत्थर फेंकने वाले पत्थरबुद्धि ही बनेंगे। रत्न निकालने वाले ही ऊंच पद पायेंगे। यह तो बहुत सहज है। जिज्ञासु को समझाओ – पतित-पावन सर्व का मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता परमपिता परमात्मा शिव कहे – हे भारतवासी रूहानी बच्चों, रावण राज्य मृत्यु-लोक के इस कलियुगी अन्तिम जन्म में पवित्र हो रहने से और परमपिता परमात्मा शिव के साथ बुद्धि योगबल की यात्रा से तमोप्रधान आत्मायें सतोप्रधान आत्मा बन सतोप्रधान सतयुगी विश्व पर पवित्रता, सुख, शान्ति, सम्पत्ति सम्पन्न मर्यादा पुरूषोत्तम दैवी स्वराज्य पद फिर से पा सकते हो, 5 हज़ार वर्ष पहले मिसल। परन्तु होवनहार महाभारी विनाश के पहले बाप हमको वर्सा देते हैं, पढ़ाई पढ़ाते हैं। जितना पढ़ेंगे उतना पद पायेंगे। साथ तो ले ही जायेंगे फिर हमको इस पुराने शरीर का वा इस दुनिया का ख्याल क्यों होना चाहिए। तुम्हारा टाइम है पुरानी दुनिया को छोड़ने का। ऐसी-ऐसी बातें बुद्धि में मंथन होती रहें तो भी बहुत अच्छा है। आगे चल पुरूषार्थ करते-करते समय आता जायेगा फिर घुटका नहीं आयेगा। देखेंगे दुनिया भी आकर थोड़े टाइम पर रही है तो बुद्धियोग लगाना चाहिए। सर्विस करने से मदद भी मिलेगी। जितना किसी को सुख का रास्ता बतायेंगे उतना खुशी रहेगी। पुरूषार्थ भी चलता है। तकदीर दिखाई पड़ती है। बाप तो तदवीर सिखलाते हैं। कोई उस पर लग पड़ते हैं, कोई नहीं लगते हैं। तुम जानते हो करोड़पति, पद्मपति सब ऐसे ही खत्म हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंच पद पाने के लिए मुख से सदैव रत्न निकालने हैं, पत्थर नहीं। मन्सा-वाचा-कर्मणा ऐसे कर्म करने हैं जो मर्यादा पुरूषोत्तम बनाने वाले हों।

2) इस अन्तिम जन्म में पवित्र बनने की प्रतिज्ञा करनी है। पवित्र बनने की ही युक्ति सबको सुनानी है।

वरदान:- सदा कल्याणकारी भावना द्वारा गुणग्राही बनने वाले अचल अडोल भव
अपनी स्थिति अचल अडोल बनाने के लिए सदा गुणग्राही बनो। अगर हर बात में गुणग्राही होंगे तो हलचल में नहीं आयेंगे। गुणग्राही अर्थात् कल्याण की भावना। अवगुण में गुण देखना इसको कहते हैं गुणग्राही, इसलिए अवगुण वाले से भी गुण उठाओ। जैसे वह अवगुण में दृढ़ है ऐसे आप गुण में दृढ़ रहो। गुण का ग्राहक बनो, अवगुण का नहीं।
स्लोगन:- अपना सब कुछ बाप को अर्पण कर सदा हल्के रहने वाले ही फरिश्ते हैं।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 February 2020

03-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी फ़र्ज-अदाई है घर-घर में बाप का पैगाम देना, कोई भी हालत में युक्ति रचकर बाप का परिचय हरेक को अवश्य दो”
प्रश्नः- तुम बच्चों को किस एक बात का शौक रहना चाहिए?
उत्तर:- जो नई-नई प्वाइंट्स निकलती हैं, उनको अपने पास नोट करने का शौक रहना चाहिए क्योंकि इतनी सब प्वाइंट्स याद रहना मुश्किल है। नोट्स लेकर फिर कोई को समझाना है। ऐसे भी नहीं कि लिखकर फिर कॉपी पड़ी रहे। जो बच्चे अच्छी रीति समझते हैं उन्हें नोट्स लेने का बहुत शौक रहता है।
गीत:- लाख जमाने वाले……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। रूहानी बच्चे, यह अक्षर एक बाप ही कह सकते हैं। रूहानी बाप बिगर कभी कोई किसको रूहानी बच्चे कह नहीं सकते। बच्चे जानते हैं सब रूहों का एक ही बाप है, हम सब भाई-भाई हैं। गाते भी हैं ब्रदरहुड, फिर भी माया की प्रवेशता ऐसी है जो परमात्मा को सर्वव्यापी कह देते हैं तो फादरहुड हो पड़ता है। रावण राज्य पुरानी दुनिया में ही होता है। नई दुनिया में राम राज्य अथवा ईश्वरीय राज्य कहा जाता है। यह समझने की बातें हैं। दो राज्य जरूर हैं-ईश्वरीय राज्य और आसुरी राज्य। नई दुनिया और पुरानी दुनिया। नई दुनिया जरूर बाप ही रचते होंगे। इस दुनिया में मनुष्य नई दुनिया और पुरानी दुनिया को भी नहीं समझते हैं। गोया कुछ नहीं जानते हैं। तुम भी कुछ नहीं जानते थे, बेसमझ थे। नई सुख की दुनिया कौन स्थापन करता है फिर पुरानी दुनिया में दु:ख क्यों होता है, स्वर्ग से नर्क कैसे बनता है, यह किसको भी पता नहीं है। इन बातों को तो मनुष्य ही जानेंगे ना। देवताओं के चित्र भी हैं तो जरूर आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था। इस समय नहीं है। यह है प्रजा का प्रजा पर राज्य। बाप भारत में ही आते हैं। मनुष्यों को यह पता नहीं है कि शिवबाबा भारत में आकर क्या करते हैं। अपने धर्म को ही भूल गये हैं। तुमको अब परिचय देना है त्रिमूर्ति और शिव बाप का। ब्रह्मा देवता, विष्णु देवता, शंकर देवता कहा जाता है फिर कहते हैं शिव परमात्माए नम: तो तुम बच्चों को त्रिमूर्ति शिव का ही परिचय देना है। ऐसी-ऐसी सर्विस करनी है। कोई भी हालत में बाप का परिचय सबको मिले तो बाप से वर्सा ले लेवें। तुम जानते हो हम अभी वर्सा ले रहे हैं। और भी बहुतों को वर्सा लेना है। हमारे ऊपर फर्ज-अदाई है घर-घर में बाप का पैगाम देने की। वास्तव में मैसेन्जर एक बाप ही है। बाप अपना परिचय तुमको देते हैं। तुमको फिर औरों को बाप का परिचय देना है। बाप की नॉलेज देनी है। मुख्य है त्रिमूर्ति शिव, इनका ही कोट ऑफ आर्मस भी बनाया है। गवर्मेंन्ट इनका यथार्थ अर्थ नहीं समझती है। उसमें चक्र भी दिया है चरखे मिसल और उसमें फिर लिखा है सत्य मेव जयते। इनका अर्थ तो निकलता नहीं। यह तो संस्कृत अक्षर है। अब बाप तो है ही ट्रूथ। वह जो समझाते हैं उससे तुम्हारी विजय होती है सारे विश्व पर। बाप कहते हैं मैं सच कहता हूँ तुम इस पढ़ाई से सच-सच नारायण बन सकते हो। वो लोग क्या-क्या अर्थ निकालते हैं। वह भी उनसे पूछना चाहिए। बाबा तो अनेक प्रकार से समझाते हैं। जहाँ-जहाँ मेला लगता है वहाँ नदियों पर भी जाकर समझाओ। पतित-पावन गंगा तो हो नहीं सकती। नदियाँ सागर से निकली हैं। वह है पानी का सागर। उनसे पानी की नदियाँ निकलती हैं। ज्ञान सागर से ज्ञान की नदियाँ निकलेगी। तुम माताओं में अब ज्ञान है, गऊमुख पर जाते हैं, उनके मुख से पानी निकलता है, समझते हैं यह गंगा का जल है। इतने पढ़े-लिखे मनुष्य समझते नहीं कि यहाँ गंगा जल कहाँ से निकलेगा। शास्त्रों में है कि बाण मारा और गंगा निकल आई। अब यह तो हैं ज्ञान की बातें। ऐसे नहीं कि अर्जुन ने बाण मारा और गंगा निकल आई। कितना दूर-दूर तीर्थों पर जाते हैं। कहते हैं शंकर की जटाओं से गंगा निकली, जिसमें स्नान करने से मनुष्य से परी बन जाते हैं। मनुष्य से देवता बन जाते, यह भी परी मिसल हैं ना।

अब तुम बच्चों को बाप का ही परिचय देना है इसलिए बाबा ने यह चित्र बनवाये हैं। त्रिमूर्ति शिव के चित्र में सारी नॉलेज है। सिर्फ उन्हों के त्रिमूर्ति के चित्र में नॉलेज देने वाले (शिव) का चित्र नहीं है। नॉलेज लेने वाले का चित्र है। अभी तुम त्रिमूर्ति शिव के चित्र पर समझाते हो। ऊपर है नॉलेज देने वाला। ब्रह्मा को उनसे नॉलेज मिलती है जो फिर फैलाते हैं। इसको कहा जाता है ईश्वर के धर्म के स्थापना की मशीनरी। यह देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। तुम बच्चों को अपने सत्य धर्म की पहचान मिली है। तुम जानते हो हमको भगवान पढ़ाते हैं। तुम कितना खुश होते हो। बाप कहते हैं तुम बच्चों की खुशी का पारावार नहीं होना चाहिए क्योंकि तुम्हें पढ़ाने वाला स्वयं भगवान है, भगवान तो निराकार शिव है, न कि श्री कृष्ण। बाप बैठ समझाते हैं सर्व का सद्गति दाता एक है। सद्गति सतयुग को कहा जाता है, दुर्गति कलियुग को कहा जाता है। नई दुनिया को नई, पुरानी को पुरानी ही कहेंगे। मनुष्य समझते हैं अभी दुनिया को पुराना होने में 40 हज़ार वर्ष चाहिए। कितना मूँझ पड़े हैं। सिवाए बाप के इन बातों को कोई समझा न सके। बाबा कहते हैं मैं तुम बच्चों को राज्य-भाग्य दे बाकी सबको घर ले जाता हूँ, जो मेरी मत पर चलते हैं वह देवता बन जाते हैं। इन बातों को तुम बच्चे ही जानते हो, नया कोई क्या समझेगा।

तुम मालियों का कर्तव्य है बगीचा लगाकर तैयार करना। बागवान तो डायरेक्शन देते हैं। ऐसे नहीं बाबा कोई नयों से मिलकर ज्ञान देगा। यह काम मालियों का है। समझो, बाबा कलकत्ते में जाये तो बच्चे समझेंगे हम अपने ऑफीसर को, फलाने मित्र को बाबा के पास ले जायें। बाबा कहेंगे, वह तो समझेंगे कुछ भी नहीं। जैसे बुद्धू को सामने ले आकर बिठायेंगे इसलिए बाबा कहते हैं नये को कभी बाबा के सामने लेकर न आओ। यह तो तुम मालियों का काम है, न कि बागवान का। माली का काम है बगीचे को लगाना। बाप तो डायरेक्शन देते हैं-ऐसे-ऐसे करो इसलिए बाबा कभी नये से मिलता नहीं है। परन्तु कहाँ मेहमान होकर घर में आते हैं तो कहते हैं दर्शन करें। आप हमको क्यों नहीं मिलने देते हो? शंकराचार्य आदि पास कितने जाते हैं। आजकल शंकराचार्य का बड़ा मर्तबा है। पढ़े लिखे हैं, फिर भी जन्म तो विकार से ही लेते हैं ना। ट्रस्टी लोग गद्दी पर कोई को भी बिठा देते हैं। सबकी मत अपनी-अपनी है। बाप खुद आकर बच्चों को अपना परिचय देते हैं कि मैं कल्प-कल्प इस पुराने तन में आता हूँ। यह भी अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। शास्त्रों में तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष लगा दी है। मनुष्य तो इतने जन्म ले नहीं सकते हैं फिर जानवर आदि की भी योनियाँ मिलाकर 84 लाख बना दी हैं। मनुष्य तो जो सुनते हैं सब सत-सत करते रहते हैं। शास्त्रों में तो सब हैं भक्तिमार्ग की बातें। कलकत्ते में देवियों की बहुत शोभावान, सुन्दर मूर्तियां बनाते हैं, सजाते हैं। फिर उनको डुबो देते हैं। यह भी गुड़ियों की पूजा करने वाले बेबीज़ ही ठहरे। बिल्कुल इनोसेन्ट। तुम जानते हो यह है नर्क। स्वर्ग में तो अथाह सुख थे। अभी भी कोई मरता है तो कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा तो जरूर कोई समय स्वर्ग था, अब नहीं है। नर्क के बाद फिर जरूर स्वर्ग आयेगा। इन बातों को भी तुम जानते हो। मनुष्य तो रिंचक भी नहीं जानते। तो नया कोई बाबा के सामने बैठ क्या करेंगे इसलिए माली चाहिए जो पूरी परवरिश करे। यहाँ तो माली भी ढेर के ढेर चाहिए। मेडिकल कॉलेज में कोई नया जाकर बैठे तो समझेगा कुछ भी नहीं। यह नॉलेज भी है नई। बाप कहते हैं मैं आया हूँ सबको पावन बनाने। मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। इस समय सब हैं तमोप्रधान आत्मायें, तब तो कह देते आत्मा सो परमात्मा, सबमें परमात्मा है। तो बाप थोड़ेही बैठ ऐसों से माथा मारेगा। यह तो तुम मालियों का काम है – काँटों को फूल बनाना।

तुम जानते हो भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। गाया भी जाता है ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। प्रजापिता ब्रह्मा के तो जरूर बच्चे भी होंगे ना। कोई को इतना भी अक्ल नहीं जो पूछे कि इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं, इनका ब्रह्मा कौन है? अरे प्रजापिता ब्रह्मा तो मशहूर है, उन द्वारा ही ब्राह्मण धर्म स्थापन होता है। कहते भी हैं ब्रह्मा देवताए नम:। बाप तुम बच्चों को ब्राह्मण बनाये फिर देवता बनाते हैं।

जो नई-नई प्वाइन्ट्स निकलती हैं, उनको अपने पास नोट करने का शौक बच्चों में रहना चाहिए। जो बच्चे अच्छी रीति समझते हैं उन्हें नोट्स लेने का बहुत शौक रहता है। नोट्स लेना अच्छा है, क्योंकि इतनी सब प्वाइन्ट्स याद रहना मुश्किल है। नोट्स लेकर फिर कोई को समझाना है। ऐसे नहीं कि लिखकर फिर कॉपी पड़ी रहे। नई-नई प्वाइंट्स मिलती रहती हैं तो पुरानी प्वाइंट्स की कापियाँ पड़ी रहती है। स्कूल में भी पढ़ते जायेंगे, पहले दर्जे वाली किताब पड़ी रहती है। जब तुम समझाते हो तो पिछाड़ी में यह समझाओ कि मन्मनाभव। बाप को और सृष्टि चक्र को याद करो। मुख्य बात है मामेकम् याद करो, इसको ही योग अग्नि कहा जाता है। भगवान है ज्ञान का सागर। मनुष्य हैं शास्त्रों का सागर। बाप कोई शास्त्र नहीं सुनाते हैं, वह भी शास्त्र सुनाये तो बाकी भगवान और मनुष्य में फ़र्क क्या रहा? बाप कहते हैं इन भक्ति मार्ग के शास्त्रों का सार मैं तुमको समझाता हूँ।

वह मुरली बजाने वाले सर्प को पकड़ते हैं तो उसके दांत निकाल देते हैं। बाप भी विष पिलाना तुमसे छुड़ा देते हैं। इसी विष से ही मनुष्य पतित बने हैं। बाप कहते हैं इनको छोड़ो फिर भी छोड़ते नहीं हैं। बाप गोरा बनाते हैं फिर भी गिरकर काला मुँह कर देते हैं। बाप आये हैं तुम बच्चों को ज्ञान चिता पर बिठाने। ज्ञान चिता पर बैठने से तुम विश्व के मालिक, जगत जीत बन जाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा खुशी रहे कि हम सत धर्म की स्थापना के निमित्त हैं। स्वयं भगवान हमें पढ़ाते हैं। हमारा देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है।

2) माली बन काँटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। पूरी परवरिश कर फिर बाप के सामने लाना है। मेहनत करनी है।

वरदान:- हर शक्ति को कार्य में लगाकर वृद्धि करने वाले श्रेष्ठ धनवान वा समझदार भव
समझदार बच्चे हर शक्ति को कार्य में लगाने की विधि जानते हैं। जो जितना शक्तियों को कार्य में लगाते हैं उतना उनकी वह शक्तियां वृद्धि को प्राप्त होती हैं। तो ऐसा ईश्वरीय बजट बनाओ जो विश्व की हर आत्मा आप द्वारा कुछ न कुछ प्राप्ति करके आपके गुणगान करे। सभी को कुछ न कुछ देना ही है। चाहे मुक्ति दो, चाहे जीवनमुक्ति दो। ईश्वरीय बजेट बनाकर सर्व शक्तियों की बचत कर जमा करो और जमा हुई शक्ति द्वारा सर्व आत्माओं को भिखारीपन से, दु:ख अशान्ति से मुक्त करो।
स्लोगन:- शुद्ध संकल्पों को अपने जीवन का अनमोल खजाना बना लो तो मालामाल बन जायेंगे।

TODAY MURLI 3 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 February 2020

03/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, it is your duty to give the Father’s message to every home. Under all circumstances, you must definitely find a way to give everyone the Father’s introduction.
Question: In which one aspect should you children be interested?
Answer: You should be interested in noting down all the new points that emerge because it is difficult to remember all of these points. You can use your notes to explain to others. However, you shouldn’t write down the points and then leave your notebook aside. The children who understand everything clearly are very interested in taking notes.
Song: Thousands of people of the world put a lock on your heart!

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. Only the one Father would say the words, “spiritual children”. No one, but the spiritual Father, would call you His spiritual children. You children knows that there is the one Father of all the spirits and that we are all brothers. People speak of brotherhood, but Maya enters them in such a way that they call the Father omnipresent, which makes it a fatherhood. Ravan’s kingdom exists over the old world. In the new world, there is Rama’s kingdom which is also called God’s kingdom. These matters have to be understood. There are definitely two kingdoms – God’s kingdom and the devil’s kingdom. There is the new world and there is the old world. It must surely be the Father who creates the new world. People of the world understand nothing about the new world or the old world; they don’t know anything. Previously, you didn’t understand anything either; you were senseless. Who establish the new world of happiness? Why is there sorrow in the old world? How does hell change into heaven? No one knows these things. Only human beings can know of these things. There are images of deities and so the original eternal kingdom of deities must surely have existed. It doesn’t exist now. It is now government of the people by the people. The Father only comes in Bharat. The people of Bharat don’t know what Shiv Baba does when He enters Bharat. They have forgotten their own religion. You now have to give them the introduction of the Trimurti and Father Shiva. People say: Deity Brahma, Deity Vishnu and Deity Shankar. Then, they say: Salutations to the Supreme Soul Shiva. Therefore, you children have to give them the introduction of Trimurti Shiva. You have to do this service. No matter what the circumstances are, when everyone receives the Father’s introduction, they can claim their inheritance from the Father. You know that you are now claiming your inheritance. Many more have yet to claim theirs. It is our duty to make sure that every home is given the Father’s message. In fact, only the Father is the Messenger. The Father gives you His own introduction. You then have to give the Father’s introduction to others. You have to give them the Father’s knowledge. The main thing is Trimurti Shiva. This is our Coat of ArmsGovernment people do not understand the accurate meaning of this. They show the cycle as a spinning wheel: on it is written, “Truth Brings Victory”. There is no meaning to those words. They are Sanskrit words. The Father is the Truth. You gain victory over the whole world with the true explanation that He gives you. The Father says: I am telling you the truth when I say that you can truly become true Narayan through this study. Those people extract so many different meanings. You should ask them the meaning of this as well. Baba explains in many different ways. Whenever a gathering is being held on the banks of a river, you should go and explain that the Ganges cannot be the Purifier. Rivers emerge from oceans. Rivers of water emerge from oceans of water. Rivers of knowledge emerge from the Ocean of Knowledge. You mothers now have this knowledge. Go to the Gaumukh where water emerges from that mouth. They believe that that is the water of the Ganges. Even people who are very educated are not able to understand how the water of the Ganges cannot emerge from there. It says in the scripture that the water of the Ganges emerged where the arrow landed. These are aspects of knowledge. It isn’t that Arjuna shot an arrow and the water of the Ganges emerged where it landed. People go so far on pilgrimages. It is said that the Ganges emerged through the locks of Shankar. It is said too that humans can change into angels by bathing in that water. To change from an ordinary human into a deity is like changing into an angel. You children must now give everyone the Father’s introduction. This is why Baba has had these pictures made. All of the knowledge is in the picture of Trimurti Shiva. In their picture of the Trimurti, they don’t have the One who gives knowledge (Shiva); there are only images of the one of those who received the knowledge. You can now explain to them using the picture of Trimurti Shiva. At the top is the image of the One who gives knowledge. Brahma receives knowledge from Him and he then spreads this knowledge. This is called the machinery for establishing God’s religion. This deity religion gives a great deal of happiness. You children have recognized your true religion. You know that God is teaching you. You become so happy because the One who is teaching you is God Himself. The Father says: there should be no limit to the happiness of you children. God is incorporeal Shiva and not Shri Krishna. The Father sits here and explains that the Bestower of Salvation for all is only the One. The golden age is called salvation and the iron age is called degradation. The new world is called new and the old world is called old. People believe that there are still forty thousand years left before the world becomes old. Everyone has become so confused. No one except the Father can explain these things. Baba says: I give you children your fortune of the kingdom and take everyone else back home. Those who follow My directions become deities. Only you children know about these things. What would new ones understand? It is the task of you gardeners to prepare the garden and make it ready. The Master of the Garden continues to give you directions. It isn’t that Baba would meet a new person and give him knowledge. That is the task of you gardeners. For instance, when Baba goes to Calcutta, children there think that they will invite their officers and friends to come to Baba. Baba says: They won’t understand anything. It is as though you bring buddhus in front of Baba. This is why Baba says: Never bring new ones in front of Baba. It is the task of you gardeners, not the Owner of the Garden, to explain. The task of a gardener is to prepare a garden. The Father continues to give you directions about what you should do. This is why Baba never meets new children. However, sometimes they have guests at home who want to have a glimpse and ask: Why don’t you let us meet Baba? So many people go to Shankaracharya etc. Shankaracharya has a great status now. He is well educated but, nevertheless, he was born through vice. Trustees (of temples) make anyone sit on the gaddi (seat of status). Each one has his own opinion. The Father comes and He Himself gives you children His introduction. I enter this old body every cycle. This one didn’t know his births. It says in the scriptures that the duration of each cycle is hundreds of thousands of years. Human beings cannot take so many births. They have then said that you also take birth in animal species etc. and they have increased the number to 8.4 million species. Whatever people hear, they continue to nod and say: It is true! Everything in the scriptures belongs to the path of devotion. In Calcutta, they make beautiful images of the deities; they decorate them beautifully and then they sink them. It is as though they have become as senseless as babies. They are absolutely innocentYou know that this is hell and that there is limitless happiness in heaven. Even now, when someone dies, people say that so-and-so has gone to heaven. Therefore, heaven must surely have existed at some time, but not now. Heaven would surely come after hell. You know about all of these things, whereas other people don’t even know a little. So what would new ones do sitting in front of Baba? Therefore, gardeners are needed who can look after them well. Many gardeners are needed here. When a new student goes and sits in a medical college he doesn’t understand anything. This knowledge is also new. The Father says: I have come to purify everyone. Remember Me and you will become pure. At present, all souls are tamopradhan. This is why they say that each soul is also the Supreme Soul. If the Supreme Soul were to be in everyone, the Father wouldn’t sit and beat His head with such people. It is the task of you gardeners to change thorns into flowers. You know that devotion is night and knowledge is day. “The day of Brahma and the night of Brahma” has been remembered. Prajapita Brahma would surely have many children. None of them even has the wisdom to ask who the Brahma of so many Brahma Kumars and Brahma Kumaris is. Prajapita Brahma is very well known and it is through him that the Brahmin religion is established. People say: Salutations to the deity Brahma. The Father makes you children into Brahmins and then into deities. You children should have the interest to note down of all these new points that emerge. The children who understand these things well would be very keen to take notes. It is good to take notes, because it is difficult to remember all of these points. Take notes and then explain to anyone who comes. It shouldn’t be that you take notes and that you then leave your book aside, that when you are given new points you put your old notebook aside. When you study at school and you make progress, you still keep the books of your earlier studies. Here, you first of all explain these things. Then, at the end, you say: Manmanabhav! Remember the Father and the world cycle. This is the main thing. Constantly remember Me alone. This is called the fire of yoga. God is the Ocean of Knowledge, whereas human beings are oceans of scriptures. The Father doesn’t relate any scriptures. If He too were to relate the scriptures, what would be the difference between human beings and God? The Father says: I tell you the essence of the scriptures of the path of devotion. People first play a flute to snakes and then catch hold of them and remove their poison. The Father too makes you stop drinking poison. Human beings have become impure with that poison. The Father says: Renounce all of that. Nevertheless, they don’t renounce it. The Father makes you beautiful but, in spite of that, some fall and dirty their faces. The Father has come to make you children sit on the pyre of knowledge. By sitting on the pyre of knowledge, you become the masters of the world, the conquerors of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Constantly have the happiness that you are the instruments who are establishing the true religion and that God Himself is teaching you. Our deity religion is one that gives a great deal of happiness.
  2. You have to become gardeners and do the service of changing thorns into flowers. Before you bring them in front of the Father, you must first prepare them well. You have to make this effort.
Blessing: May you become extremely wealthy and sensible by using every power and increasing those powers.
Sensible children know the method of using every power. To the extent that you use the powers, to that extent those powers increase. So, make such a spiritual budget that every soul receives something or other from you and sings your praise. You definitely have to give them something or other, whether you give them liberation or liberation-in-life. Make a spiritual budget, save and accumulate all the spiritual powers and with the powers you have accumulated, liberate all souls from being beggars, from sorrow and peacelessness.
Slogan: Make pure thoughts into invaluable treasures in your life and you will become full of all treasures.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 3 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 February 2019 :- Click Here

03/02/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
17/04/84

The signs of those who are multimillion times fortunate.

Today, the Father, the Bestower of Fortune, is looking at all His fortunate children. Every Brahmin soul is a fortunate soul. To become a Brahmin means to become fortunate. To belong to God means to become fortunate. All are fortunate but, after belonging to the Father and receiving the inheritance of the different treasures from the Father, you become numberwise in claiming a right to that elevated inheritance, in using it in your life of all rights and in constantly increasing the rights you have received in the right way to bring about expansion. Some just remain fortunate and others become a hundred times fortunate. Some become a thousand times fortunate, some become a hundred thousand times fortunate and some become multimillion times fortunate. This is because to use the treasures in the right way means to increase them, whether you use them to make yourself complete, or whether, with the completion of yourself, you use them to serve other souls. Perishable wealth diminishes as you use it. Imperishable wealth increases multimillion times as you use it. This is why there is the saying “Spend it and eat from it”. The more you spend and eat from it, the more prosperous the Father, the Emperor of all Emperors, will make you. This is why those who use their treasures of the fortune they have received for service will continue to move forward. To be multi-million times fortunate means to accumulate an income of multi-millions at every step and as a multi-million time server, to use your every thought, word, deed and connection for service. One who is multi-million times fortunate is constantly generous-hearted and a great donor eternally and constantly; that one would be a bestower who constantly gives to others. Such souls would not be servers according to the programme or facilities, but constantly great donors. If they don’t serve through words, they would serve through their thoughts and deeds. Through their connections and relationships they would be constant servers with their unending and constant treasures in one or another way. There would be different forms of service, but the wave of service would constantly continue. Just as you are a constant yogi, so be a constant server. A constant server constantly eats the elevated fruit of service and also continues to give it to others, that is, he himself eats the fruit all the time and thereby becomes a practical embodiment.

Multimillion times fortunate souls would always be seated on a lotus seat, that is, they would always be in the stage of a lotus flower. They would be detached from the attractions of anything limited and detached from accepting limited fruit, and so would be loved by the Father, the Brahmin family and the world. Such elevated server souls are constantly offered flowers of happiness by everyone with love from their hearts. BapDada Himself offers flowers of love to such constant serving multi-million times fortunate souls. Multimillion times fortunate souls constantly give other souls light with their sparkling stars of fortune to make them fortunate. BapDada was seeing such fortunate souls. Whether they are far away or personally in front of Baba, they constantly have the Father merged in their heart. This is why those who are equal remain close. Now ask yourself what type of fortunate soul you are. You can know yourself, can you not? You may or may not accept something when others tell you, but you yourself can know what type of soul you are. Do you understand? Nevertheless, BapDada says: At least you have become fortunate from being unfortunate. You will at least become free from the many types of sorrow and suffering. You will at least become the masters of heaven. One is to go to heaven and the other is to claim a right to the kingdom. All of you will go to heaven, but ask yourself when and where you will come in heaven. Your name has already been written in BapDada’s list for going to heaven. This is better than for everyone else in the world. However, it is not the best of all. So, what will you do? Which zone will claim number one? Each zone has its own speciality.

What is the speciality of Maharashtra? Do you know? You are great anyway, but what is the special speciality that is remembered of you? Ganesh is worshipped a great deal in Maharashtra. What is Ganesh also called? The destroyer of obstacles. Whenever people begin a task, they first give salutations to Ganesh. So what will those from Maharashtra do? You will invoke Shri Ganesh for every great task, will you not? Maharashtra means the state of those who are constantly destroyers of obstacles. So always be a destroyer of obstacles and show this greatness for yourself and for others. Let there not be any obstacles in Maharashtra. Let everyone become a destroyer of obstacles. Let it come and salute you from a distance. So you have brought a group of such destroyers of obstacles, have you not? Maharashtra has constantly to show this greatness of itself to the world. You are not those who are afraid of obstacles, are you? You are the destroyers of obstacles who challenge others. In any case, Maharashtra shows a lot of bravery. Achcha.

What wonders will those from UP show? What is the speciality of UP? There are many pilgrimage places and many rivers there. All the Jagadgurus are also there. There are four Jagadgurus in the four corners, are there not? There are many Mahamandleshwars in UP. The doorway to Hari (Haridwar) in UP is special. So, let there be many servers in UP who show the doorway to Hari (God), that is, those who show the door to go close to God. Because UP is a pilgrimage place, there are many guides there. They are those who eat and drink, but you are the spiritual server guides who show the true path, who celebrate a meeting with the Father and who bring others close to the Father. Are there such special Pandavas who are the guides in UP? UP has to reveal its form of the Pandavas practically as being the guides. Do you understand?

What is the speciality of Mysore? There is sandalwood there and also special gardens there. So, those from Karnataka especially have to become constant spiritual roses and fragrant sandalwood. Spread the fragrance of sandalwood and of spiritual roses and make the world into a garden. Spread the fragrance of sandalwood into the world. Give the tilak of sandalwood and make everyone fragrant and cool. Sandalwood is also cool. So, the maximum number of spiritual roses will emerge from Karnataka, will it not? This means to show the practical proof. Now, everyone has to show the practical form of their own speciality. You have to bring the maximum number of fragrant spiritual roses that are in full bloom. You have brought them. Some of you have brought them, but you haven’t brought a bouquet. Achcha.

Baba has spoken a lot of praise of the foreign lands. The speciality of abroad is that you become very detached and also become very attached. Seeing the loving detachment of the children from abroad, BapDada is pleased. That life has now become the past. To the extent that you were trapped, to that extent you have now become detached. This is why BapDada loves the detachment and the lovingness of those from abroad. This is why BapDada is also giving special love and remembrance. You have become merged in your own speciality, have you not? You are so detached and loving, are you not? You don’t have any attachment, do you? Nevertheless, those from abroad have come home as guests and so the guests are always kept at the front. This is why the people of Bharat have special happiness seeing those from abroad. There are some who come as guests and settle down as hosts. This has always been the activity of those from abroad. They come as guests and settle as hosts. They have nevertheless broken many barriers and come to the Father, and so you would say “You first”, would you not? In any case, Bharat has its own speciality and abroad has its own speciality. Achcha.

To all the multi-million times fortunate souls who are seated on the lotus seat, to those who are constantly well-known goddesses with 84 bells in every thought and at every second … So, will you now ring the bells in 84 or should we wait even longer? Abroad, people are living in fear, wondering when the bells will be rung. Will the lands abroad ring the bells or will this land ring them? “84” means the bells will ring everywhere. At the end of any function, when they do the “arti” (special worship ritual with lamps on a tray), they ring the bells very loudly and then the ceremony is completed. To do the “arti” means it is the end. So, what will you do now?

To all the multi-million times fortunate souls who are seated on the lotus seat, to those who are constant servers at every second and in every thought, to the master bestowers who constantly give all treasures with a generous heart, to those who make others complete with their own completion, to those who have a right to the elevated fortune, to the worthy children who constantly give elevated proof, BapDada’s love, remembrance and namaste.

To the residents of Punjab:

The Father is sitting here and so you don’t need to think about anything. Whatever happens will be beneficial. You belong to everyone: you are neither Hindus nor Sikhs. You belong to the Father and so you belong to everyone. In Pakistan too, they used to say that you are the people who belong to God. You don’t have a connection with anything. This is why you belong to God and not to anyone else. No matter what happens, you are not those who become afraid. No matter how much fire there is, the kittens will remain safe. However, only those who are yogyukt will remain safe. Let it not be that you say that you belong to the Father and you remember someone else. Such souls will not receive help. Don’t be afraid. Don’t have any fear but continue to move forward. Move forward in the pilgrimage of remembrance, in imbibing virtues and in studying – in all subjects. The more you move forward, the more easily you will continue to attain.

Do all of you consider yourselves to be special actors in this world drama? Can you see your pictures of the previous cycle, now? This is the wonder of Brahmin life. Always remember this speciality: what you were and what you have become. You have become worth diamonds from shells. You have come into the world of happiness from the world of sorrow. All of you are the hero heroine actors of this drama. Each of you Brahma Kumars and Kumaris is a messenger who will give the Father’s message. The messengers who give God’s message are so elevated. So, you have incarnated to carry out this task constantly. You have come down from up above to give this message. This awareness will give you happiness. Simply remember this occupation of yours at all times: You are the masters of the mine of happiness. This is your title.

Do you constantly experience yourselves to be the elevated confluence-aged Brahmin souls? “True Brahmins” are those who constantly give the true Father’s true introduction. The duty of a brahmin priest is to tell religious stories. You don’t tell religious stories, but you give the true introduction. Always have the intoxication that you are the Brahmin souls who give the true introduction of the true Father. Brahmins are even more elevated than the deities. This is why they show the place of Brahmins to be the topknot. The Brahmins with a topknot refers to those who remain in an elevated stage. When you remain high up, everything down below will be very small. Nothing will then seem to be a big thing. When you are sitting up above, the things down below appear to be very small. When you find a problem to be something big, the reason is that you are seeing it while sitting down below. If you look at it from up above, you won’t have to labour. So, always remember that you are Brahmins with topknots. Through this, even the big problems will become small in a second. You are not those who are afraid of problems, but those who find solutions to problems and overcome them. Achcha.

This morning (18/4/84) at amrit vela, a brother had a heart failure and left his body in Madhuban.

These are the elevated versions that Avyakt BapDada spoke at that time.

All of you are the elevated souls who observe every scene of the drama as detached observers, are you not? Any scene that is in the drama is said to be benevolent. Nothing new! (Speaking to his sister-in-law) What are you thinking? By observing every scene while being seated on the seat of a detached observer, there is benefit for you and also benefit for that soul. You do understand this, do you not? You are the form of a Shakti in remembrance, are you not? A Shakti is always victorious. You are one who plays all your part as a victorious Shakti. This is also a part. While playing your part do not have any other thoughts. Each soul has his own individual part. Now, give that soul the co-operation of peace and power. He is receiving the co-operation of so many of the divine family and so there is nothing to think about. This is a great pilgrimage place, is it not? He was a great soul, this is a great pilgrimage place. Always think of the greatness. All of you are sitting in remembrance, are you not? A beloved child finished his account in an old body and shed it and has moved on to the preparations of the new body. Therefore, everyone now give that fortunate soul the co-operation of peace and power. This is special service. Do not go into “Why?” or “What?”, but you yourself, as an embodiment of power, spread rays of peace into the world. He is an elevated soul, a soul who will earn an income and so there is nothing to think about. Do you understand?

Blessing: May you become a conqueror of obstacles by having the awareness of your angelic form and experiencing the Father’s canopy of protection.
As soon as you wake up at amrit vela, bring into your awareness: I am an angel. Give Father Brahma this gift that he loves and BapDada will then enfold you in His arms every day at amrit vela and you will experience yourself to be swinging in Baba’s arms in supersensuous joy. Even if any adverse situations or obstacles come to those who maintain the awareness of the angelic form, the Father will become the canopy of protection for them. So, by experiencing the Father’s canopy of protection and His love, become a conqueror of obstacles.
Slogan: A soul who is an embodiment of happiness will easily be victorious over adverse situations with his own original stage.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 February 2019

To Read Murli 2 February 2019 :- Click Here
03-02-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 17-04-84 मधुबन

पद्मापद्म भाग्यशाली की निशानी

आज भाग्य विधाता बाप सभी भाग्यवान बच्चों को देख रहे हैं। हर एक ब्राह्मण आत्मा भाग्यवान आत्मा है। ब्राह्मण बनना अर्थात् भाग्यवान बनना। भगवान का बनना अर्थात् भाग्यवान बनना। भाग्यवान तो सभी हैं लेकिन बाप के बनने के बाद बाप द्वारा जो भिन्न-भिन्न खजानों का वर्सा प्राप्त होता है, उस श्रेष्ठ वर्से के अधिकार को प्राप्त कर अधिकारी जीवन में चलाना वा प्राप्त हुए अधिकार को सदा सहज विधि द्वारा वृद्धि को प्राप्त करना इसमें नम्बरवार बन जाते हैं। कोई भाग्यवान रह जाते, कोई सौभाग्यवान बन जाते। कोई हजार, कोई लाख, कोई पद्मापद्म भाग्यवान बन जाते क्योंकि खजाने को विधि से कार्य में लगाना अर्थात् वृद्धि को पाना। चाहे स्वयं को सम्पन्न बनाने के कार्य में लगावें, चाहे स्वयं की सम्पन्नता द्वारा अन्य आत्माओं की सेवा के कार्य में लगावें। विनाशी धन खर्चने से खुटता है। अविनाशी धन खर्चने से पद्मगुणा बढ़ता है इसलिए कहावत है खर्चो और खाओ। जितना खर्चेंगे, खायेंगे उतना शाहों का शाह बाप और मालामाल बनायेंगे इसलिए जो प्राप्त हुए खजाने के भाग्य को सेवा अर्थ लगाते हैं वह आगे बढ़ते हैं। पद्मापद्म भाग्यवान अर्थात् हर कदम में पद्मों की कमाई जमा करने वाले और हर संकल्प से वा बोल, कर्म, सम्पर्क से पदमों को पदमगुणा सेवाधारी बन सेवा में लगाने वाले। पद्मापद्म भाग्यवान सदा फ्राकदिल, अविनाशी, अखण्ड महादानी, सर्व प्रति सर्व खजाने देने वाले दाता होंगे। समय वा प्रोग्राम प्रमाण, साधनों प्रमाण सेवाधारी नहीं, अखण्ड महादानी। वाचा नहीं, तो मंसा वा कर्मणा। सम्बन्ध-सम्पर्क द्वारा किसी न किसी विधि द्वारा अखुट अखण्ड खजाने के निरन्तर सेवाधारी। सेवा के भिन्न-भिन्न रूप होंगे लेकिन सेवा का लंगर सदा चलता रहेगा। जैसे निरन्तर योगी हो वैसे निरन्तर सेवाधारी। निरन्तर सेवाधारी सेवा का श्रेष्ठ फल निरन्तर खाते और खिलाते रहते अर्थात् स्वयं ही सदा का फल खाते हुए प्रत्यक्ष स्वरूप बन जाते हैं।

पद्मापद्म भाग्यवान आत्मा सदा पदम आसन निवासी अर्थात् कमल पुष्प स्थिति के आसन निवासी हद के आकर्षण और हद के फल को स्वीकार करने से न्यारे और बाप तथा ब्राह्मण परिवार के, विश्व के प्यारे। ऐसी श्रेष्ठ सेवाधारी आत्मा को सर्व आत्मायें सदा दिल के स्नेह के खुशी के पुष्प चढ़ाते हैं। स्वयं बापदादा भी ऐसे निरन्तर सेवाधारी पद्मापद्म भाग्यवान आत्मा प्रति स्नेह के पुष्प चढ़ाते हैं। पद्मापद्म भाग्यवान आत्मा सदा अपने चमकते हुए भाग्य के सितारे द्वारा अन्य आत्माओं को भी भाग्यवान बनाने की रोशनी देते। बापदादा ऐसे भाग्यवान बच्चों को देख रहे थे। चाहे दूर हैं, चाहे सन्मुख हैं लेकिन सदा बाप को दिल में समाये हुए हैं इसलिए समान सो समीप रहते। अब अपने आपसे पूछो मैं कौन-सा भाग्यवान हूँ। अपने आपको तो जान सकते हैं ना। दूसरे के कहने से मानो वा न मानो लेकिन स्वयं को सब जानते हैं कि मैं कौन हूँ! समझा। फिर भी बापदादा कहते हैं भाग्यहीन से भाग्यवान तो बन गये। अनेक प्रकार के दु:ख-दर्द से तो बचेंगे। स्वर्ग के मालिक तो बनेंगे। एक है स्वर्ग में आना। दूसरा है राज्य अधिकारी बनना। आने वाले तो सब हो लेकिन कब और कहाँ आयेंगे, यह स्वयं से पूछो। बापदादा के रजिस्टर में स्वर्ग में आने की लिस्ट में नाम आ गया। दुनिया से तो यह अच्छा है। लेकिन अच्छे से अच्छा नहीं है। तो क्या करेंगे? कौन-सा ज़ोन नम्बरवन आयेगा। हर ज़ोन की विशेषता अपनी-अपनी है।

महाराष्ट्र की विशेषता क्या है? जानते हो? महान तो है ही लेकिन विशेष विशेषता क्या गाई जाती है! महाराष्ट्र में गणपति की पूजा ज्यादा होती है। गणपति को क्या कहते हैं? विघ्न-विनाशक। जो भी कार्य आरम्भ करते हैं तो पहले गणेशाए नम: कहते हैं। तो महाराष्ट्र वाले क्या करेंगे? हर महान कार्य में श्री गणेश करेंगे ना। महाराष्ट्र अर्थात् सदा विघ्न-विनाशक राष्ट्र। तो सदा विघ्न-विनाशक बन स्वयं और अन्य के प्रति इसी महानता को दिखायेंगे! महाराष्ट्र में विघ्न नहीं होना चाहिए। सब विघ्न-विनाशक हो जाएं। आया और दूर से नमस्कार किया। तो ऐसा विघ्न-विनाशक ग्रुप लाया है ना! महाराष्ट्र को सदा अपनी इस महानता को विश्व के आगे दिखाना है। विघ्न से डरने वाले तो नहीं हो ना। विघ्न-विनाशक चैलेंज करने वाले हैं। वैसे भी महाराष्ट्र में बहादुरी दिखाते हैं। अच्छा!

यू.पी. वाले क्या कमाल दिखायेंगे? यू.पी. की विशेषता क्या है? तीर्थ भी बहुत हैं, नदियॉ भी बहुत हैं, जगतगुरू भी वहाँ ही हैं। चार कोने में चार जगतगुरू हैं ना। महामण्डलेश्वर यू.पी. में ज्यादा हैं। हरि का द्वार यू.पी. का विशेष है। तो हरि का द्वार अर्थात् हरि के पास जाने का द्वार बताने वाले सेवाधारी यू.पी. में ज्यादा होने चाहिए। जैसे तीर्थ स्थान के कारण यू.पी. में पण्डे बहुत हैं। वह तो खाने-पीने वाले हैं लेकिन यह है सच्चा रास्ता बताने वाले रूहानी सेवाधारी पण्डे। जो बाप से मिलन मनाने वाले हैं। बाप के समीप लाने वाले हैं। ऐसे पाण्डव सो पण्डे यू.पी. में विशेष हैं? यू.पी. को यह विशेष पाण्डव सो पण्डे का प्रत्यक्ष रूप दिखाना है। समझा!

मैसूर की विशेषता क्या है? वहाँ चन्दन भी है और विशेष गार्डन भी है। तो कर्नाटक वालों को विशेष सदा रूहानी गुलाब, सदा खुशबूदार चन्दन बन विश्व में चन्दन की खुशबू कहो अथवा रूहानी गुलाब की खुशबू कहो, विश्व को गार्डन बनाना है और विश्व में चन्दन की खुशबू फैलानी है। चन्दन का तिलक दे खुशबूदार और शीतल बनाना है। चन्दन शीतल भी होता है। तो सबसे ज्यादा रूहानी गुलाब कर्नाटक से निकलेंगे ना। यह प्रत्यक्ष प्रमाण लाना है।

अभी सबको अपनी-अपनी विशेषता का प्रत्यक्ष रूप दिखाना है। सबसे खिले हुए खुशबूदार रूहानी गुलाब लाने पड़ें। लाये भी हैं, कुछ-कुछ लाये हैं लेकिन गुलदस्ता नहीं लाया है। अच्छा!

विदेश की महिमा तो बहुत सुनाई है। विदेश की विशेषता है – डिटैच भी बहुत जोर से होंगे तो अटैच भी जोर से होंगे। बापदादा विदेशी बच्चों का न्यारा और प्यारापन देख हर्षित होते हैं। वह जीवन तो बीत गई। जितना फँसे हुए थे उतने ही अब न्यारे भी हो गये इसलिए विदेश का न्यारा और प्यारापन बापदादा को भी प्यारा लगता है इसलिए विशेष बापदादा भी यादप्यार दे रहे हैं। अपनी विशेषता में समा गये हो! ऐसे न्यारे और प्यारे हो ना। अटैचमेन्ट तो नहीं है ना। फिर भी देखो विदेशी मेहमान होकर घर में आये हैं तो मेहमानों को सदा आगे किया जाता है इसलिए भारतवासियों को विदेशियों को देख विशेष खुशी होती है। कई ऐसे गेस्ट होते जो होस्ट बन बैठ जाते हैं। विदेशियों की सदा यही चाल रही है। गेस्ट बन आते और होस्ट बन बैठ जाते। फिर भी अनेक दीवारों को तोड़कर बाप के पास सो आपके पास आये हैं। तो ‘पहले आप” तो कहेंगे ना। ऐसे तो भारत की विशेषता अपनी, विदेश की अपनी है। अच्छा!

सभी पदम आसनधारी पद्मापद्म भाग्यवान, सदा हर सेकण्ड, हर संकल्प में निरन्तर 84 घण्टों वाली देवियाँ मशहूर हैं। तो अभी 84 में घण्टा बजायेंगे वा और भी अभी इन्तजार करें! विदेश में तो डर से जी रहे हैं। तो कब घण्टे बजायेंगे। विदेश बजावे वा देश बजावे। 84 माना चारों ओर के घण्टे बजें। जब समाप्ति में आरती करते हैं तो जोर-जोर से घण्टे बजाते हैं ना तब समाप्ति होती है। आरती का होना माना समाप्ति होना। तो अब क्या करेंगे?

सभी पदम-आसनधारी, पद्मापद्म भाग्यवान, सदा हर सेकेण्ड, हर संकल्प में निरन्तर सेवाधारी, सदा फ्राकदिल बन सर्व खजानों को देने वाले, मास्टर दाता, सदा स्वयं की सम्पन्नता द्वारा औरों को भी सम्पन्न बनाने वाले, श्रेष्ठ भाग्य अधिकारी, सदा श्रेष्ठ सबूत देने वाले सपूत बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पंजाब निवासियों प्रति:- बाप बैठा है इसलिए सोचने की जरूरत नहीं है, जो होगा वह कल्याणकारी है। आप तो सबके हो। न हिन्दू हो, न सिक्ख हो। बाप के हो तो सबके हो। पाकिस्तान में भी यही कहते थे ना – आप तो अल्लाह के बन्दे हो, आपको किसी बात से कनेक्शन नहीं इसलिए आप ईश्वर के हो, और किसी के नहीं। क्या भी हो लेकिन डरने वाले नहीं। कितनी भी आग लगे बिल्ली के पूँगरे तो सेफ रहेंगे लेकिन जो योगयुक्त होंगे वही सेफ रहेंगे। ऐसे नहीं, कहे मैं बाप की हूँ और याद करे दूसरों को। ऐसे को मदद नहीं मिलेगी। डरो नहीं, घबराओ नहीं, आगे बढो। याद की यात्रा में, धारणाओं में, पढ़ाई में सब सबजेक्ट से आगे बढ़ो। जितना आगे बढेंगे उतना सहज ही प्राप्ति करते रहेंगे।

2. सभी अपने को इस सृष्टि ड्रामा के अन्दर विशेष पार्टधारी समझते हो? कल्प पहले वाले अपने चित्र अभी देख रहे हो! यही ब्राह्मण जीवन का वन्डर है। सदा इसी विशेषता को याद करो कि क्या थे और क्या बन गये। कौड़ी से हीरे तुल्य बन गये। दु:खी संसार से सुखी संसार में आ गये। आप सब इस ड्रामा के हीरो हीरोइन एक्टर हो। एक-एक ब्रह्माकुमार कुमारी बाप का सन्देश सुनाने वाले सन्देशी हो। भगवान का सन्देश सुनाने वाले सन्देशी कितने श्रेष्ठ हुए! तो सदा इसी कार्य के निमित्त अवतरित हुए हैं। ऊपर से नीचे आये हैं यह सन्देश देने – यही स्मृति खुशी दिलाने वाली है। बस अपना यही आक्यूपेशन सदा याद रखो कि खुशियों की खान के मालिक हैं। यही आपका टाइटिल है।

3. सदा अपने को संगमयुगी श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्मायें अनुभव करते हो? सच्चे ब्राह्मण अर्थात् सदा सत्य बाप का परिचय देने वाले। ब्राह्मणों का काम है कथा करना, तुम कथा नहीं करते लेकिन सत्य परिचय सुनाते हो। ऐसे सत्य बाप का सत्य परिचय देने वाले, ब्राह्मण आत्मायें हैं, यही नशा रहे। ब्राह्मण देवताओं से भी श्रेष्ठ हैं इसलिए ब्राह्मणों का स्थान चोटी पर दिखाते हैं। चोटी वाले ब्राह्मण अर्थात् ऊंची स्थिति में रहने वाले। ऊंचा रहने से नीचे सब छोटे होंगे। कोई भी बात बड़ी नहीं लगेगी। ऊपर बैठकर नीचे की चीज़ देखो तो छोटी लगेगी। कभी कोई समस्या बड़ी लगती तो उसका कारण नीचे बैठकर देखते हो। ऊपर से देखो तो मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। तो सदा याद रखना चोटी वाले ब्राह्मण हैं – इसमें बड़ी समस्या भी सेकण्ड में छोटी हो जायेगी। समस्या से घबराने वाले नहीं लेकिन पार करने वाले समस्या का समाधान करने वाले। अच्छा।

आज सवेरे (18-4-84) अमृतवेले एक भाई ने हार्टफेल होने से अपना पुराना शरीर मधुबन में छोड़ा उस समय अव्यक्त बापदादा के उच्चारे हुए महावाक्य

सभी ड्रामा की हर सीन को साक्षी हो देखने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो ना! कोई भी सीन जो भी ड्रामा में होती है उसको कहेंगे कल्याणकारी। नथिंग न्यू। (उनकी लौकिक भाभी से) क्या सोच रही हो? साक्षीपन की सीट पर बैठ सब दृश्य देखने से अपना भी कल्याण है और उस आत्मा का भी कल्याण है। यह तो समझती हो ना! याद में शक्ति रूप हो ना। शक्ति सदा विजयी होती है। विजयी शक्ति रूप बन सारा पार्ट बजाने वाली। यह भी पार्ट है। पार्ट बजाते हुए कभी भी और कोई संकल्प नहीं करना। हर आत्मा का अपना-अपना पार्ट है। अभी उस आत्मा को शान्ति और शक्ति का सहयोग दो। इतने सारे दैवी परिवार का सहयोग प्राप्त हो रहा है इसलिए कोई सोचने की बात नहीं है। महान तीर्थ स्थान है ना! महान आत्मा है, महान तीर्थ है। सदा महानता ही सोचो। सभी याद में बैठे हो ना! एक लाडला बच्चा, अपने इस पुराने शरीर का हिसाब पूरा कर अपने नये शरीर की तैयारी में चला इसलिए अभी सभी उस भाग्यवान आत्मा को शान्ति, शक्ति का सहयोग दो। यही विशेष सेवा है। क्यों, क्या में नहीं जाना लेकिन स्वयं भी शक्ति स्वरूप हो, विश्व में शान्ति की किरणें फैलाओ। श्रेष्ठ आत्मा है, कमाई करने वाली आत्मा है इसलिए कोई सोचने की बात नहीं। समझा!

वरदान:- फरिश्ते स्वरूप की स्मृति द्वारा बाप की छत्रछाया का अनुभव करने वाले विघ्न जीत भव 
अमृतवेले उठते ही स्मृति में लाओ कि मैं फरिश्ता हूँ। ब्रह्मा बाप को यही दिलपसन्द गिफ्ट दो तो रोज़ अमृतवेले बापदादा आपको अपनी बांहों में समा लेंगे, अनुभव करेंगे कि बाबा की बाहों में, अतीन्द्रिय सुख में झूल रहे हैं। जो फरिश्ते स्वरूप की स्मृति में रहेंगे उनके सामने कोई परिस्थिति वा विघ्न आयेगा भी तो बाप उनके लिए छत्रछाया बन जायेंगे। तो बाप की छत्रछाया वा प्यार का अनुभव करते विघ्न जीत बनो।
स्लोगन:- सुख स्वरूप आत्मा स्व-स्थिति से परिस्थिति पर सहज विजय प्राप्त कर लेती है।
Font Resize