daily murli 3 december

TODAY MURLI 4 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 4 December 2020

04/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the unlimited Father has come to decorate you with knowledge. If you want to claim a high status, remain constantly decorated.
Question: On seeing which children does the unlimited Father become very pleased?
Answer: The unlimited Father is very pleased to see the children who are constantly ever ready to do service, who fully follow both the alokik and parlokik Fathers, who decorate their souls with knowledge and yoga and who serve the impure in order to purify them. The Father’s desire is that the children make effort and claim a high status.

Om shanti. The spiritual Father says to the spiritual children: Sweetest children, just as a physical father loves his children, so too, the unlimited Father loves His unlimited children. A father gives teachings to his children and also cautions them so that they claim a high status. That is a father’s desire. That is also the desire of the unlimited Father. He decorates you children with the ornaments of knowledge and yoga. Both fathers decorate you very well so that you can claim a high status. The alokik father becomes happy and the parlokik Father also becomes happy. It is remembered of those who make effort very well that they are those who follow the Father. So you have to follow both of them. One is the spiritual Father and the other is this alokik father. Therefore you have to make effort to claim a high status. When you were in a bhatthi, a photograph was taken of all of you with your crowns. The Father has explained that there is no crown of light. It is just a symbol of purity that is given to all. It isn’t that there is actually a crown of white light. It is shown as a symbol of purity. At first you live in the golden age. You are the only ones there. The Father also says: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. You children are the ones who come first and you then have to return first. You have to open the gates to the land of liberation. The Father is decorating you children. One lives in simplicity in one’s parents’ home. At this time, you too have to be very ordinary: not too high, not too low. The Father says: I enter an ordinary body. No bodily being can be called God. Human beings cannot grant salvation to human beings. Only the Guru can grant salvation. When people go into the stage of retirement at the age of 60, they adopt a guru. That system begins at this time and it then continues on the path of devotion. Nowadays they even make young children adopt gurus. Even though they may not be in their stage of retirement, there can be sudden death for anyone. This is why they even make little children adopt gurus. Just as the Father says that all of you are souls and that you all have a right to claim your inheritance, so they say that without a guru you cannot receive a status, that is, you cannot merge into the brahm element. You do not want to become merged. That term belongs to the path of devotion. A soul is like a star, just a point. The Father is also a point. That point is called the Ocean of Knowledge. You too are tiny souls and all the knowledge is recorded in that point. You take the full knowledge. You pass with honours. It isn’t that He is very big like a Shivalingam. The Supreme Soul is just as big as a soul. A soul comes from the supreme abode to play his part. The Father says: I too come from there, but I do not have a body of My own. I am Rup and also Basant. The Supreme Soul is Rup and He is filled with all the knowledge. He showers knowledge so that allhuman beings change from sinful souls to charitable souls. The Father grants both liberation and salvation. You go into salvation and all the rest go into liberation, that is, to their home. That is the sweet home. It is souls that listen through their ears. The Father now says: Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, you now have to return home. For this, you definitely have to remain pure. No one except pure souls can return home. I have come to take everyone back. Souls are said to be the procession of Shiva. Shiv Baba is now establishing the Temple of Shiva (Shivalaya). Then Ravan comes and establishes the brothel. The path of sin is called the brothel. Baba has many children who remain pure even after marriage. Sannyasis say that it is not possible for both to live together like that. Here, it is explained to you that there is a lot of income in that. By remaining pure you receive a kingdom for 21 births. Therefore, it is not a big thing to remain pure for one birth. The Father says: You have become completely ugly by sitting on the pyre of lust. It is said of Krishna that he is ugly and beautiful, Shyam and Sundar. This explanation is of this time. By sitting on the pyre of lust, the soul has become ugly. He is then called a village urchin. He truly was that. Krishna cannot be that. It is at the end of the last of his many births that the Father enters him and makes him beautiful. You now have to remember the one Father alone. Baba, You are so sweet! You give us such a sweet inheritance. You change us from ordinary humans into deities and make us worthy of being in a temple. Talk to yourself in this way. You don’t have to say anything through your lips. On the path of devotion you have been remembering the Beloved so much. You have now come and met us! Baba, You are the sweetest of all! Why would we not remember You? You are called the Ocean of Love and the Ocean of Peace. Only You give us the inheritance; nothing can be received through inspiration. The Father comes here personally and teaches you children. This is a pathshala. The Father says: I make you into kings of kings. This is Raj Yoga. You now know the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world and how such a tiny soul plays his part. This play is predestined; it is called the eternal, imperishable world drama. The drama continues to turn; there is no question of doubt about this. The Father tells you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. You are swadarshanchakradhari. The whole cycle continues to turn around in your intellects, and so your sins are cut away through that. However, it isn’t that Krishna committed any violence by spinning the discus. There, there is neither the violence of war nor of the sword of lust. They are doubly non-violent there. At this time, your war is with the five vices. It is not a question of any other war. The Father is the Highest on High and He gives you the highest-on-high inheritance. He makes you as elevated as Lakshmi and Narayan. The more effort you make, the higher the status you will claim. It will be the same study for you every cycle. If you make effort well now, you will continue to do that for cycle after cycle. You cannot receive as high a status through a physical study as you can through this spiritual study. Lakshmi and Narayan become the highest on high. They too are human beings but, because they imbibed divine virtues, they are called deities. However, there are no human beings with eight to ten arms. On the path of devotion, when they have a vision, they cry a great deal. They become unhappy and shed many tears. Here, the Father says: If you have any tears, you fail. Even if your mother dies, eat halva. Nowadays, even in Bombay, when someone is ill or dies, they call the Brahma Kumaris to come and give them peace. You explain to them: That soul has shed a body and taken another, and so what loss is there in that for you? What is the benefit in crying? They say: He was taken away by death. There is no such thing. Each soul automatically sheds his body. A soul sheds his body at his own time and runs away. However, there is nothing like death. In the golden age a womb is like a palace; there is no question of punishment. There, your actions are neutral. Maya doesn’t exist there and so no sinful actions are performed there. You are becoming conquerors of sinful actions. First there is the period of those who have conquered sinful actions. Then the path of devotion begins and there is the rule of King Vikram. (Vikarma = sinful action). At this time you gain victory over the sinful actions you have committed. The name that has been given is “The conqueror of sinful actions” (Vikarmajeet – one who has gained victory over sinful actions). Then, in the copper age, there is King Vikram; sins continue to be committed. If there is rust on a needle, a magnet will not be able to pull it. The more the rust of sins is removed, the more the Magnet will be able to pull you needles. The Father is completely pure. He purifies you too with the power of yoga. A physical father is pleased to see his children. The unlimited Father is also pleased to see the service that the children do. Children are making a lot of effort. You have to remain ever ready for service at all times. You children are the Godly mission that purifies the impure. You are now the children of God; there is the unlimited Father and all of you brothers and sisters. There is no other relationship. In the land of liberation there is the Father and you souls who are brothers. When you go to the golden age, there will only be one son and one daughter. Here, there are so many relationships: maternal uncle, paternal uncle etc. The incorporeal world is the sweet home, the land of liberation. Human beings create so many sacrificial fires, do tapasya, etc. for that, but no one is able to return home. They continue to tell many tall stories. The Bestower of Salvation for All is One and none other. You are now at the confluence age. Here, there are so many human beings. In the golden age, there are very few. There is establishment and destruction. Now, because there are innumerable religions, there is so much upheaval. You were 100% solvent and, having taken 84 births, you have become 100% insolvent. The Father has now come to awaken everyone. Now, wake up! The golden age is coming! Only the true Father gives you the inheritance for 21 births. Only Bharat becomes the land of truth. The Father creates the land of truth; who then creates the land of falsehood? Ravan, the five vices. They make such a big effigy of Ravan and then burn it because he is the number one enemy. People don’t know when the kingdom of Ravan began. The Father explains: For half the cycle there is the kingdom of Rama and for the other half there is the kingdom of Ravan. However, Ravan is not a human being who has to be killed. At this time, it is the kingdom of Ravan over the whole world. The Father comes and establishes the kingdom of Rama, and then there are the cries of victory. There, they have constant happiness. That is the land of happiness. This is called the most elevated confluence age. The Father says: By making this effort you will become this. Your photographs were taken. Many came and then, after hearing this knowledge and relating it to others, they ran away. The Father comes and explains to you children with a lot of love. The Father and the Teacher love you; the Guru also loves you. Someone who defames the Satguru cannot claim a high status. Your aim and objective is in front of you. Those gurus don’t have any aim or objective. That is not a study; this is a study. This is called a university-cum-hospital in which you become ever healthy and wealthy. Here, in (kaliyug) everything is false. They sing: Maya is false, bodies are false and the whole world is false. The golden age is the land of truth. There, there are palaces studded with diamonds and jewels. The Somnath Temple was created on the path of devotion. There was so much wealth there; the Muslims came and looted it and used it to build huge mosques. The Father is giving you limitless treasures. You have been receiving visions of these from the beginning. Baba is Allah Avaldin (Aval = first, din = religion). He establishes the first religion, which is deityism. The religion that doesn’t exist is being established once again. Everyone knows that it used to be their kingdom in the ancient golden age. There is no one higher than them. The deity kingdom is called Paradise. You now know this and you have to relate it to others. How can everyone come to know so that none can then complain that they didn’t know? You tell everyone, yet some leave the Father and go away. This history must repeat. When you come to Baba, Baba asks you: Have we met before? You say: Yes Baba, we came to meet You 5000 years ago. We came to claim our unlimited inheritance. Some come and listen to this and some remember all of this when they have a vision of Brahma. Then they say that they have seen that same form before. The Father too is pleased to see you children. Your aprons are being filled with the imperishable jewels of knowledge. This is a study. You can do the seven days’ course and then continue wherever you are on the basis of the murli. In seven days so much will be explained to you that you will be able to understand the murli. The Father continues to explain all the secrets to you children very clearly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Spin the discus of self-realisation and burn away your sins. Make your status elevated by studying this spiritual study. Never shed tears under any circumstances.
  2. This is the time to stay in the stage of retirement. Therefore, live very simply and in an ordinary way: neither too high nor too low. In order to return home, you souls have to become completely pure.
Blessing: May you make your intellect powerful with the power of churning and become a master almighty authority.
Thepower of churning gives nourishment for a divine intellect. Just as people have the practice of remembering on the path of devotion, in the same way, in knowledge, there is the power of awareness. Become a master almighty authority with this power. Every day at amrit vela, bring one of your titles into your awareness and continue to churn. Then, by churning, your intellect will remain powerful. Maya cannot attack a powerful intellect, it cannot be influenced, because Maya first of all weakens the divine intellect with an arrow of waste thoughts. The way to protect yourself from this weakness is the power of churning.
Slogan: Obedient children are worthy of receiving blessings and the influence of blessings keeps your heart constantly content.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

04-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बेहद का बाबा आया है तुम बच्चों का ज्ञान से श्रृंगार करने, ऊंच पद पाना है तो सदा श्रृंगारे हुए रहो”
प्रश्नः- किन बच्चों को देखकर बेहद का बाप बहुत खुश होते हैं?
उत्तर:- जो बच्चे सर्विस के लिए एवररेडी रहते हैं, अलौकिक और पारलौकिक दोनों बाप को पूरा फालो करते हैं, ज्ञान-योग से आत्मा को श्रृंगारते हैं, पतितों को पावन बनाने की सेवा करते हैं, ऐसे बच्चों को देख बेहद के बाप को बहुत खुशी होती है। बाप की चाहना हैं मेरे बच्चे मेहनत कर ऊंच पद पायें।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों प्रति कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, जैसे लौकिक बाप को बच्चे प्यारे लगते हैं वैसे बेहद के बाप को भी बेहद के बच्चे प्यारे लगते हैं। बाप बच्चों को शिक्षा, सावधानी देते हैं कि बच्चे ऊंच पद पायें। यही बाप की चाहना होती है। तो बेहद के बाप की भी यह इच्छा रहती है। बच्चों को ज्ञान और योग के गहनों से श्रृंगारते हैं। तुमको दोनों बाप बहुत अच्छी रीति श्रृंगारते हैं कि बच्चे ऊंच पद पायें। अलौकिक बाप भी खुश होते हैं तो पारलौकिक बाप भी खुश होते हैं, जो अच्छी रीति पुरुषार्थ करते हैं, उन्हों को देखकर गाया भी जाता है फालो फादर। तो दोनों को फालो करना है। एक है रूहानी बाप, दूसरा फिर यह है अलौकिक फादर। तो पुरुषार्थ कर ऊंच पद पाना है।

तुम जब भट्ठी में थे तो सबका ताज सहित फोटो निकाला गया था। बाप ने तो समझाया है लाइट का ताज कोई होता नहीं। यह एक निशानी है पवित्रता की, जो सबको देते हैं। ऐसे नहीं कोई सफेद लाइट का ताज होता है। यह पवित्रता की निशानी समझाई जाती है। पहले-पहले तुम रहते हो सतयुग में। तुम ही थे ना। बाप भी कहते हैं, आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. तुम बच्चे ही पहले-पहले आते हो फिर पहले तुमको ही जाना है। मुक्तिधाम के गेट्स भी तुमको खोलने हैं। तुम बच्चों को बाप श्रृंगारते हैं। पियरघर में वनवाह में रहते हैं। इस समय तुमको भी साधारण रहना है। न ऊंच, न नींच। बाप भी कहते हैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। कोई भी देहधारी को भगवान कह नहीं सकते। मनुष्य, मनुष्य की सद्गति कर नहीं सकते। सद्गति तो गुरू ही करते हैं। मनुष्य 60 वर्ष के बाद वानप्रस्थ लेते हैं फिर गुरू करते हैं। यह भी रस्म अभी की है जो फिर भक्तिमार्ग में चलती है। आजकल तो छोटे बच्चे को भी गुरू करा देते हैं। भल वानप्रस्थ अवस्था नहीं है परन्तु अचानक मौत तो आ जाता है ना इसलिए बच्चों को भी गुरू करा देते हैं। जैसे बाप कहते हैं तुम सभी आत्मायें हो, हक है वर्सा पाने का। वह कह देते हैं गुरू बिगर ठौर नहीं पायेंगे अर्थात् ब्रह्म में लीन नहीं होंगे। तुमको तो लीन नहीं होना है। यह भक्ति मार्ग के अक्षर हैं। आत्मा तो स्टॉर मिसल, बिन्दी है। बाप भी बिन्दी ही है। उस बिन्दी को ही ज्ञान सागर कहा जाता है। तुम भी छोटी आत्मा हो। उसमें सारा ज्ञान भरा जाता है। तुम फुल ज्ञान लेते हो। पास विद् ऑनर होते हैं ना। ऐसे नहीं कि शिवलिंग कोई बड़ा है। जितनी बड़ी आत्मा है, उतना ही परम आत्मा है। आत्मा परमधाम से आती है पार्ट बजाने। बाप कहते हैं मैं भी वहाँ से आता हूँ। परन्तु मुझे अपना शरीर नहीं है। मै रूप भी हूँ, बसन्त भी हूँ। परम आत्मा रूप है, उनमें सारा ज्ञान भरा हुआ है। ज्ञान की वर्षा बरसाते हैं तो सभी मनुष्य पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बन जाते हैं। बाप गति सद्गति दोनों देते हैं। तुम सद्गति में जाते हो बाकी सब गति में अर्थात् अपने घर में जाते हैं। वह है स्वीट होम। आत्मा ही इन कानों द्वारा सुनती है। अब बाप कहते हैं मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों वापस जाना है, उसके लिए पवित्र जरूर बनना है। पवित्र बनने बिगर कोई भी वापिस जा न सके। मैं सबको ले जाने आया हूँ। आत्माओं को शिव की बरात कहते हैं। अब शिवबाबा शिवालय की स्थापना कर रहे हैं। फिर रावण आकर वेश्यालय स्थापन करते हैं। वाम मार्ग को वेश्यालय कहा जाता है। बाबा के पास बहुत बच्चे हैं जो शादी करके भी पवित्र रहते हैं। संन्यासी तो कहते हैं – यह हो नहीं सकता, जो दोनों इकट्ठे रह सकें। यहाँ समझाया जाता है इसमें आमदनी बहुत है। पवित्र रहने से 21 जन्मों की राजधानी मिलती है तो एक जन्म पवित्र रहना कोई बड़ी बात थोड़ेही है। बाप कहते हैं तुम काम चिता पर बैठ बिल्कुल ही काले बन गये हो। कृष्ण के लिए भी कहते हैं गोरा और सांवरा, श्याम सुन्दर। यह समझानी इस समय की है। काम चिता पर बैठने से सांवरे बन गये, फिर उनको गांव का छोरा भी कहा जाता है। बरोबर था ना। कृष्ण तो हो न सके। इनके ही बहुत जन्मों के अन्त में बाप प्रवेश कर गोरा बनाते हैं। अभी तुमको एक बाप को ही याद करना है। बाबा आप कितने मीठे हैं, कितना मीठा वर्सा आप देते हैं। हमको मनुष्य से देवता, मन्दिर लायक बनाते हो। ऐसे-ऐसे अपने से बातें करनी हैं। मुख से कुछ बोलना नहीं है। भक्ति मार्ग में आप माशूक को कितना याद करते आये हैं। अभी आप आकर मिले हो, बाबा आप तो सबसे मीठे हो। आपको हम क्यों नहीं याद करेंगे। आपको प्रेम का, शान्ति का सागर कहा जाता है, आप ही वर्सा देते हो, बाकी प्रेरणा से कुछ भी मिलता नहीं है। बाप तो सम्मुख आकर तुम बच्चों को पढ़ाते हैं। यह पाठशाला है ना। बाप कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। यह राजयोग है। अभी तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन को जान गये हो। इतनी छोटी आत्मा कैसे पार्ट बजाती है। है भी बना-बनाया। इनको कहा जाता है अनादि-अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा। ड्रामा फिरता रहता है, इसमें संशय की कोई बात नहीं। बाप सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं, तुम स्वदर्शन चक्रधारी हो। तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र फिरता रहता है। तो उससे तुम्हारे पाप कट जाते हैं। बाकी कृष्ण ने कोई स्वदर्शन चक्र चलाकर हिंसा नहीं की। वहाँ तो न लड़ाई की हिंसा होती, न काम कटारी चलती है। डबल अहिंसक होते हैं। इस समय तुम्हारी 5 विकारों से युद्ध चलती है। बाकी और कोई युद्ध की बात ही नहीं। अब बाप है ऊंच ते ऊंच, फिर ऊंच ते ऊंच यह वर्सा लक्ष्मी-नारायण, इन जैसा ऊंच बनना है। जितना तुम पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। कल्प-कल्प वही तुम्हारी पढ़ाई रहेगी। अभी अच्छा पुरुषार्थ किया तो कल्प-कल्प करते रहेंगे। जिस्मानी पढ़ाई से इतना पद नहीं मिल सकता जितना रूहानी पढ़ाई से मिलता है। ऊंच ते ऊंच यह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह भी हैं तो मनुष्य परन्तु दैवीगुण धारण करते हैं इसलिए देवता कहा जाता है। बाकी 8-10 भुजाओं वाले कोई है नहीं। भक्ति में दीदार होता है तो बहुत रोते हैं, दु:ख में आकर बहुत आंसू बहाते हैं। यहाँ तो बाप कहते हैं आंसू आया तो फेल। अम्मा मरे तो हलुआ खाओ…. आजकल तो बाम्बे में भी कोई बीमार पड़ते वा मरते हैं तो बी.के. को बुलाते हैं कि आकर शान्ति दो। तुम समझाते हो आत्मा ने एक शरीर छोड़ दूसरा लिया, इसमें तुम्हारा क्या जाता। रोने से क्या फायदा। कहते हैं, इनको काल खा गया.. ऐसी कोई चीज़ है नहीं। यह तो आत्मा आपेही एक शरीर छोड़ जाती है। अपने समय पर शरीर छोड़ भागती है। बाकी काल कोई चीज़ नहीं है। सतयुग में गर्भ महल होता है, सज़ा की बात ही नहीं। वहाँ तुम्हारे कर्म अकर्म हो जाते हैं। माया ही नहीं जो विकर्म हो। तुम विकर्माजीत बनते हो। पहले-पहले विकर्माजीत संवत चलता है फिर भक्ति मार्ग शुरू होता है तो राजा विक्रम संवत शुरू होता है। इस समय जो विकर्म किये हैं उन पर जीत पाते हो, नाम रखा जाता है विकर्माजीत। फिर द्वापर में विक्रम राजा हो जाता, विकर्म करते रहते हैं। सुई पर अगर कट चढ़ी हुई होगी तो चुम्बक खींचेगा नहीं। जितना पापों की कट उतरती जायेगी तो चुम्बक खीचेगा। बाप तो पूरा प्योर है। तुमको भी पवित्र बनाते हैं योगबल से। जैसे लौकिक बाप भी बच्चों को देख खुश होते हैं ना। बेहद का बाप भी खुश होता है बच्चों की सर्विस पर। बच्चे बहुत मेहनत भी कर रहे हैं। सर्विस पर तो हमेशा एवररेडी रहना है। तुम बच्चे हो पतितों को पावन बनाने वाले ईश्वरीय मिशन। अभी तुम ईश्वरीय सन्तान हो, बेहद का बाप है और तुम सब बहन-भाई हो। बस और कोई संबंध नहीं। मुक्तिधाम में है ही बाप और तुम आत्मायें भाई-भाई फिर तुम सतयुग में जाते हो तो वहाँ एक बच्चा, एक बच्ची बस, यहाँ तो बहुत संबंध होते हैं – चाचा, काका, मामा…आदि।

मूलवतन तो है ही स्वीट होम, मुक्तिधाम। उसके लिए मनुष्य कितना यज्ञ तप आदि करते हैं परन्तु वापिस तो कोई भी जा न सके। गपोड़े बहुत मारते रहते हैं। सर्व का सद्गति दाता तो है ही एक। दूसरा न कोई। अभी तुम हो संगमयुग पर। यहाँ हैं ढेर मनुष्य। सतयुग में तो बहुत थोड़े होते हैं। स्थापना फिर विनाश होता है। अभी अनेक धर्म होने कारण कितना हंगामा है। तुम 100 परसेन्ट सालवेन्ट थे। फिर 84 जन्मों के बाद 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट बन पड़े हो। अब बाप आकर सबको जगाते हैं। अब जागो, सतयुग आ रहा है। सत्य बाप ही तुमको 21जन्मों का वर्सा देते हैं। भारत ही सचखण्ड बनता है। बाप सचखण्ड बनाते हैं, झूठ खण्ड फिर कौन बनाते हैं? 5 विकारों रूपी रावण। रावण का कितना बड़ा बुत बनाते हैं फिर उसको जलाते हैं क्योंकि यह है नम्बरवन दुश्मन। मनुष्यों को यह पता नहीं है कि कब से रावण का राज्य हुआ है। बाप समझाते हैं आधाकल्प है रामराज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। बाकी रावण कोई मनुष्य नहीं है, जिसको मारना है। इस समय सारी दुनिया पर रावण राज्य है, बाप आकर राम राज्य स्थापन करते हैं, फिर जय-जयकार हो जाती है। वहाँ सदैव खुशी रहती है। वह है ही सुखधाम। इनको कहा जाता है पुरुषोत्तम संगमयुग। बाप कहते हैं इस पुरुषार्थ से तुम यह बनने वाले हो। तुम्हारे चित्र भी बनाये थे, बहुत आये फिर सुनन्ती, कथन्ती भागन्ती हो गये। बाप आकर तुम बच्चों को बहुत प्यार से समझाते हैं। बाप, टीचर प्यार करते हैं, गुरू भी प्यार करते हैं। सतगुरू का निंदक ठौर न पाये। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट सामने खड़ी है। उन गुरूओं के पास तो एम आब्जेक्ट कोई होती नहीं। वह कोई पढ़ाई नहीं है, यह तो पढ़ाई है। इनको कहा जाता है युनिवर्सिटी कम हॉस्पिटल, जिससे तुम एवरहेल्दी, वेल्दी बनते हो। यहाँ तो है ही झूठ, गाते भी हैं झूठी काया… सतयुग है सचखण्ड। वहाँ तो हीरे जवाहरातों के महल होते हैं। सोमनाथ का मन्दिर भी भक्तिमार्ग में बनाया है। कितना धन था जो फिर मुसलमानों ने आकर लूटा। बड़ी-बड़ी मस्जिदें बनाई। बाप तुमको कारून का खजाना देते हैं। शुरू से ही तुमको सब साक्षात्कार कराते आये हैं। अल्लाह अवलदीन बाबा है ना। पहला-पहला धर्म स्थापन करते हैं। वह है डिटीज्म। जो धर्म नहीं है वह फिर से स्थापन होता है। सब जानते हैं प्राचीन सतयुग में इन्हों का ही राज्य था, उनके ऊपर कोई नहीं। डीटी राज्य को ही पैराडाइज कहा जाता है। अभी तुम जानते हो फिर औरों को बताना है। सबको कैसे पता पड़े जो फिर ऐसा कोई उल्हना न दे कि हमको पता नहीं पड़ा। तुम सबको बतलाते हो फिर भी बाप को छोड़कर चले जाते हैं। यह हिस्ट्री मस्ट रिपीट। बाबा के पास आते हैं तो बाबा पूछते हैं – आगे कभी मिले हो? कहते हैं हाँ बाबा 5 हज़ार वर्ष पहले हम मिलने आये थे। बेहद का वर्सा लेने आये थे, कोई आकर सुनते हैं, कोई को साक्षात्कार होता है ब्रह्मा का तो वह याद आता है। फिर कहते हैं हमने तो यही रूप देखा था। बाप भी बच्चों को देख खुश होते हैं। तुम्हारी अविनाशी ज्ञान रत्नों से झोली भरती है ना। यह पढ़ाई है। 7 दिन का कोर्स लेकर फिर भल कहाँ भी रह मुरली के आधार पर चल सकते हैं, 7 दिन में इतना समझायेंगे जो फिर मुरली को समझ सकेंगे। बाप तो बच्चों को सब राज़ अच्छी रीति समझाते रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वदर्शन चक्र फिराते पापों को भस्म करना है, रूहानी पढ़ाई से अपना पद श्रेष्ठ बनाना है। किसी भी परिस्थिति में आंसू नहीं बहाने हैं।

2) यह वानप्रस्थ अवस्था में रहने का समय है, इसलिए वनवाह में बहुत साधारण रहना है। न बहुत ऊंच, न बहुत नींच। वापस जाने के लिए आत्मा को सम्पूर्ण पावन बनाना है।

वरदान:- मनन शक्ति द्वारा बुद्धि को शक्तिशाली बनाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान भव
मनन शक्ति ही दिव्य बुद्धि की खुराक है। जैसे भक्ति में सिमरण करने के अभ्यासी हैं, ऐसे ज्ञान में स्मृति की शक्ति है। इस शक्ति द्वारा मास्टर सर्वशक्तिमान बनो। रोज़ अमृतवेले अपने एक टाइटल को स्मृति में लाओ और मनन करते रहो तो मनन शक्ति से बुद्धि शक्तिशाली रहेगी। शक्तिशाली बुद्धि के ऊपर माया का वार नहीं हो सकता, परवश नहीं हो सकते क्योंकि माया सबसे पहले व्यर्थ संकल्प रूपी वाण द्वारा दिव्यबुद्धि को ही कमजोर बनाती है, इस कमजोरी से बचने का साधन ही है मनन शक्ति।।
स्लोगन:- आज्ञाकारी बच्चे ही दुआओं के पात्र हैं, दुआओं का प्रभाव दिल को सदा सन्तुष्ट रखता है।

TODAY MURLI 3 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 December 2020

03/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to remain very happy in your thoughts, words and deeds. Make everyone happy. Don’t cause anyone sorrow.
Question: What should you doublynon-violent children pay attention to?
Answer: 1. Pay attention that you don’t say any words by which anyone would experience sorrow, because to cause anyone sorrow, even through words, is violence.
2. We are going to become deities. Therefore, our behaviour has to be very royal. Our food and drink should neither be too rich nor too simple.
Song: This is a battle between the weak and the strong.

Om shanti. The Father first of all explains to the sweetest, long-lost and now-found children every day: Sit here while considering yourselves to be souls and remember the Father. It is said: Attention please! So, the Father says: Firstly, pay attention to the Father. The Father is so sweet. He is called the Ocean of Love and the Ocean of Knowledge. So you also have to become loving. You should experience happiness in your every thought, word and deed. Don’t cause anyone sorrow. The Father doesn’t make anyone unhappy. The Father has come to make you happy. You too mustn’t cause any type of sorrow for anyone. You mustn’t perform any such action. It shouldn’t even enter your thoughts. However, that will be your stage at the end. The physical senses make you make one mistake or another. If you consider yourself to be a soul and consider others to be your brother souls, you won’t cause anyone sorrow. If you don’t look at the body, how could you cause anyone sorrow? This requires incognito effort. This is all work for the intellect. You are now becoming those with divine intellects. When you had divine intellects, you experienced a lot of happiness; you were the masters of the land of happiness, were you not? This is the world of sorrow. This is very simple. That land of silence is our sweet home. We came from there to play our parts. We played our parts of sorrow for a long time, and we now want to go to the land of happiness. Therefore, we have to consider ourselves to be brothers. Souls cannot cause sorrow for souls. Consider yourself to be a soul while talking to souls. The soul is seated on the throne. This is Shiv Baba’s chariot. Daughters say that they are decorating Shiv Baba’s chariot, that they are feeding Shiv Baba’s chariot. So, they only remember Shiv Baba. He is the Benevolent Father. He says: I even benefit the five elements. There, nothing ever causes any difficulty. Here, there are sometimes storms and sometimes intense cold and sometimes something else. There, it is constantly Spring. There is no mention of sorrow there. That is heaven! The Father has come to make you into the masters of heaven. God is the Highest on High. He is the highest-on-high Father and the highest-on-high Supreme Teacher and so He would definitely make you the highest on high. You were Lakshmi and Narayan. You have forgotten all of these things. Only the Father explains all of these things. When the rishis and munis were asked if they knew the Creator and the beginning, the middle and the end of creation, they said, “neti, neti” (neither this nor that.). Since they didn’t have this knowledge, how could it have continued from time immemorial? The Father says: Only at this time do I give you this knowledge. Once you are in salvation, there is no need for this knowledge. There is no degradation there. The golden age is called salvation. Here, there is degradation. However, no one knows that they are in a state of degradation. The Father is remembered as the Liberator, the Guide and the Boatman. He takes everyone’s boat across from the ocean of poison; that is called the ocean of milk. They have portrayed Vishnu in a lake of milk. All of that is praise from the path of devotion. They have a big lake in which they place a very big image of Vishnu. The Father explains: You used to rule the whole world. You have experienced defeat and victory many times. The Father says: Lust is the greatest enemy. By conquering it, you become the conquerors of the world. So, you should do that in great happiness. You may live at home with your families, on the household path, but live as purely as a lotus. You are now changing from thorns into flowers. You now understand that this is a forest of thorns. They harass one another so much; they even beat one another. The Father tells you sweetest children: It is now the stage of retirement for all of you. It is the stage of retirement for all: young and old. You are now studying to go beyond sound. You have now found the Satguru. He will definitely take you beyond sound. This is a university. God speaks: I teach you Raj Yoga and make you into the kings of kings. Those who were worthy-of-worship kings then became royal worshippers. So, the Father says: Children, make effort very well. Imbibe divine virtues. You may eat, drink and go to Shrinath etc. There, you receive a lot of food cooked with clarified butter. They also have wells of clarified butter. Who eats all of that? Those worshippers (who look after everything there). They have made images of Shrinath and Jagadnath in black stone. They have dirty images of the deities in the Jagadnath Temple. They cook a big pot of rice there. When the rice is cooked, it automatically splits into four equal parts. They offer bhog of just rice because everything is now ordinary. On this side, all are poor and on the other side, all are wealthy. Just look how poor everyone is now. They don’t even have enough to eat or drink. In the golden age you have everything. The Father sits here and explains to souls. Shiv Baba is very sweet. He is the Incorporeal. It is the soul that is loved. It is the soul that is invoked. When someone dies, the body is burnt and the soul is invoked and a lamp ignited in his memory. They do that because they think that the soul is in darkness. The soul is without a body and so how can there be any question of darkness? These things do not exist there. All of that is the path of devotion. The Father explains so well. Knowledge is very sweet. You have to listen with your eyes open. You will at least then look at the Father. You know that Shiv Baba is present here and so you should sit with your eyes open, should you not? You should look at the unlimited Father, should you not? Earlier, when the daughters used to look at Baba, they would go into trance; they would go into trance while just sitting together. They used to run around with their eyes closed. It was a wonder! The Father continues to explain: When you look at one another, consider yourself to be talking to your brother soul or explaining to your brother soul. Will you not take the advice of the unlimited Father? If you become pure in this last birth, you will become the masters of the pure world. Baba explains to many. Some instantly say: Baba, I will definitely become pure. It is good to remain pure. When a kumari is pure, everyone bows down to her. When she gets married she becomes a worshipper. She then has to bow down to everyone. So purity is good, is it not? When there is purity, there is also peace and prosperity. Everything depends on purity. You call out: O Purifier, come! Ravan doesn’t exist in the pure world. That is the kingdom of Rama where everyone lives like milk and sugar. That is the kingdom of righteousness and so how could Ravan exist there? They sit and relate the Ramayana etc. with so much love. All of that is devotion. Daughters used to dance while having visions. There is the praise of the boat of truth: it will rock but never sink. People are not forbidden to go to any other gatherings, but they are told not to come here. The Father is giving you knowledge. You become BKs. You definitely have to become Brahmins. The Father is the One who establishes heaven and so we surely have to become the masters of heaven. Why are we still here in hell? We now understand that we were previously worshippers. We are now becoming worthy of worship for 21 births. We have been worshippers for 63 births and we will now become the worthy-of-worship masters of heaven. This knowledge is for changing from an ordinary human into Narayan. God speaks: I make you into kings of kings. Impure kings bow down to pure kings. There is definitely a temple in the palace of every emperor. It would generally be a temple to Radhe and Krishna, Lakshmi and Narayan or Rama and Sita. Nowadays, they even build temples to Ganesh or Hanuman etc. There is so much blind faith on the path of devotion. You now understand that you truly did rule a kingdom and that you then fell onto the path of sin. The Father now explains to you that this is your last birth. Sweetest children, you were in heaven at first. Then, you gradually came down and have now fallen to the floor. You then say: We were very elevated and the Father is making us elevated once again. We continue to study every 5000 years. This is called the repetition of the history and geography of the world. Baba says: I am making you children into the masters of the world. It will be your kingdom over the whole world. It says in the song: Baba, You give us such a kingdom that no one can snatch it away from us. There are now so many partitions. They fight over water and land. They continue to look after their own people. If they didn’t do that, youths would start to throw stones. Those people think that the youth are strong and will therefore protect Bharat. So, they are now showing their strength! Look at the condition of the world! It is the kingdom of Ravan. The Father says: This is the devilish community. You are now becoming those of the deity community. How could there be a war between devils and deities? You are becoming doubly non-violent. Deities are called doubly non-violent. It is said: Non-violence is the supreme religion of the deities. Baba has explained that to cause anyone sorrow through words is also violence. You are becoming deities and so there has to be royalty in every respect. Your food and drink should neither be too rich nor too simple; it should be just right. Kings etc. speak very little. The subjects have a lot of love for their kings. Look at what is happening here! There are now so many riots and so much revolution! The Father says: It is when the conditions are like this that I come and make the world peaceful. The Government wants everyone to become united. All are brothers; this is a play. The Father says to you children: You don’t have to worry about anything. There is a lot of difficulty about grain. There, there will be so much grain that you will be able to receive as much as you want without any expense. You are now establishing that deity kingdom. We are now making our health such that we will never become diseased. This is a guarantee. We are also making our characters like those of the deities. You can explain to ministers according to whatever field they are the ministers of. You have to explain with great tact. They write very good opinions. However, when you tell them that they should also come to understand this, they say that they don’t have the time. Tell them: When important people make some noise, the poor will also benefit. The Father explains: Death is now over everyone’s head. While you are saying, “Today (aaj), tomorrow (kal)”, death (kaal) will eat you up. You have become like Kumbhakarna. Children enjoy explaining a great deal. Baba has had these pictures made. Dada did not have this knowledge. You receive an inheritance from your physical fathers and from the parlokik Father. You don’t receive an inheritance from the alokik father. This one is the agent in between; there is no inheritance from him. You mustn’t remember Prajapita Brahma. You will not receive anything from me. I am also studying. Those are just limited inheritances whereas the other inheritance is from the unlimited Father. What inheritance would Prajapita Brahma give you? The Father says: Constantly remember Me alone. This one is the chariot. You mustn’t remember the chariot. God is called the Highest on High. The Father sits here and explains to souls. It is the soul that does everything. The soul sheds one skin and takes another. There is the example of the snake. You are the buzzing moths; you buzz knowledge. By relating this knowledge, you can make anyone into a master of the world. Why would you not remember the Father who makes you into the masters of the world? The Father has now come and so why do you not claim your inheritance from Him? Why do you say that you don’t have time? Good children are able to understand in a second. Baba has explained to you that people worship Lakshmi. What do you receive from Lakshmi and what do you receive from Amba? Lakshmi is a goddess of heaven. They ask her for alms of money. Amba makes you into a master of the world. She fulfils all your desires. All your desires are fulfilled through shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make the awareness of being a soul firm so that you don’t make any mistakes through the physical senses. Don’t look at the body. Pay attention to the one Father.
  2. It is now your stage of retirement. Therefore, make effort to go beyond sound. Definitely become pure. Let it remain in your intellect that the boat of truth will rock, but never sink. Therefore don’t be afraid of obstacles.
Blessing: May you be a world benefactor who is merciful by finishing the ego of the self and any doubts.
No matter how many defects a soul has, how harsh the sanskars of the soul may be, even if he doesn’t have any wisdom and is always insulting others, the children who are merciful world benefactors will be lawful and loveful with all souls. They will never have any doubts as to whether someone will be able to change or not, or that this one is always like that, or this one cannot do anything. I alone am everything, but that one is nothing. Putting aside this type of ego and doubts, and while knowing about the weaknesses and defects, the children who are able to forgive and be merciful are successful in the service of world benefit.
Slogan: Where there is the co-operation of body, mind and wealth of Brahmins, success is with you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

03-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें मन्सा-वाचा-कर्मणा बहुत-बहुत खुशी में रहना है, सबको खुश करना है, किसी को भी दु:ख नहीं देना है”
प्रश्नः- डबल अहिंसक बनने वाले बच्चों को कौन सा ध्यान रखना है?
उत्तर:- 1. ध्यान रखना है कि ऐसी कोई वाचा मुख से न निकले जिससे किसी को भी दु:ख हो क्योंकि वाचा से दु:ख देना भी हिंसा है। 2. हम देवता बनने वाले हैं, इसलिए चलन बहुत रॉयल हो। खान-पान न बहुत ऊंचा, न नीचा हो।
गीत:- निर्बल से लड़ाई बलवान की……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को बाप रोज़-रोज़ पहले समझाते हैं कि अपने को आत्मा समझ बैठो और बाप को याद करो। कहते हैं ना अटेन्शन प्लीज़! तो बाप कहते हैं एक तो अटेन्शन दो बाप की तरफ। बाप कितना मीठा है, उनको कहा जाता है प्यार का सागर, ज्ञान का सागर। तो तुमको भी प्यारा बनना चाहिए। मन्सा-वाचा-कर्मणा हर बात में तुमको खुशी रहनी चाहिए। कोई को भी दु:ख नहीं देना है। बाप भी किसी को दु:खी नहीं करते हैं। बाप आये ही हैं सुखी करने। तुमको भी कोई प्रकार का किसको दु:ख नहीं देना है। कोई भी ऐसा कर्म नहीं करना चाहिए। मन्सा में भी नहीं आना चाहिए। परन्तु यह अवस्था पिछाड़ी में होगी। कुछ न कुछ कर्मेन्द्रियों से भूल होती है। अपने को आत्मा समझेंगे, दूसरे को भी आत्मा भाई देखेंगे तो फिर किसको दु:ख नहीं देंगे। शरीर ही नहीं देखेंगे तो दु:ख कैसे देंगे। इसमें गुप्त मेहनत है। यह सारा बुद्धि का काम है। अभी तुम पारस बुद्धि बन रहे हो। तुम जब पारसबुद्धि थे तो तुमने बहुत सुख देखे। तुम ही सुखधाम के मालिक थे ना। यह है दु:खधाम। यह तो बहुत सिम्पुल है। वह शान्तिधाम है हमारा स्वीट होम। फिर वहाँ से पार्ट बजाने आये हैं, दु:ख का पार्ट बहुत समय बजाया है, अब सुखधाम में चलना है इसलिए एक-दो को भाई-भाई समझना है। आत्मा, आत्मा को दु:ख नहीं दे सकती। अपने को आत्मा समझ आत्मा से बात कर रहे हैं। आत्मा ही तख्त पर विराजमान है। यह भी शिवबाबा का रथ है ना। बच्चियाँ कहती हैं – हम शिवबाबा के रथ को श्रृंगारते हैं, शिवबाबा के रथ को खिलाते हैं। तो शिवबाबा ही याद रहता है। वह है ही कल्याणकारी बाप। कहते हैं मैं 5 तत्वों का भी कल्याण करता हूँ। वहाँ कोई भी चीज़ कभी तकलीफ नहीं देती है। यहाँ तो कभी तूफान, कभी ठण्डी, कभी क्या होता रहता है। वहाँ तो सदैव बहारी मौसम रहता है। दु:ख का नाम नहीं। वह है ही हेविन। बाप आये हैं तुमको हेविन का मालिक बनाने। ऊंच ते ऊंच भगवान है, ऊंच ते ऊंच बाप ऊंच ते ऊंच सुप्रीम टीचर भी है तो जरूर ऊंच ते ऊंच ही बनायेंगे ना। तुम यह लक्ष्मी-नारायण थे ना। यह सब बातें भूल गये हो। यह बाप ही बैठ समझाते हैं। ऋषियों-मुनियों आदि से पूछते थे – आप रचयिता और रचना को जानते हो तो नेती-नेती कह देते थे, जबकि उनके पास ही ज्ञान नहीं था तो फिर परम्परा कैसे चल सकता। बाप कहते हैं यह ज्ञान मैं अभी ही देता हूँ। तुम्हारी सद्गति हो गई फिर ज्ञान की दरकार नहीं। दुर्गति होती ही नहीं। सतयुग को कहा जाता है सद्गति। यहाँ है दुर्गति। परन्तु यह भी किसको पता नहीं है कि हम दुर्गति में हैं। बाप के लिए गाया जाता है लिबरेटर, गाइड, खिवैया। विषय सागर से सबकी नैया पार करते हैं, उसको कहते हैं क्षीरसागर। विष्णु को क्षीर सागर में दिखाते हैं। यह सब है भक्ति मार्ग का गायन। बड़ा-बड़ा तलाव है, जिसमें विष्णु का बड़ा चित्र दिखाते हैं। बाप समझाते हैं, तुमने ही सारे विश्व पर राज्य किया है। अनेक बार हार खाई और जीत पाई है। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, उन पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे, तो खुशी से बनना चाहिए ना। भल गृहस्थ व्यवहार में, प्रवृत्ति मार्ग में रहो परन्तु कमल फूल समान पवित्र रहो। अभी तुम कांटों से फूल बन रहे हो। समझ में आता है यह है फॉरेस्ट ऑफ थार्न्स (कांटों का जंगल) एक दो को कितना तंग करते हैं, मार देते हैं। तो बाप मीठे-मीठे बच्चों को कहते हैं तुम सबकी अब वानप्रस्थ अवस्था है। छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। तुम वाणी से परे जाने के लिए पढ़ते हो ना। तुमको अभी सद्गुरू मिला है। वह तो वानप्रस्थ में तुमको ले ही जायेंगे। यह है युनिवर्सिटी। भगवानुवाच है ना। मैं तुमको राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। जो पूज्य राजायें थे वही फिर पुजारी राजायें बनते हैं। तो बाप कहते हैं – बच्चे, अच्छी रीति पुरुषार्थ करो। दैवीगुण धारण करो। भल खाओ, पियो, श्रीनाथ द्वारे में जाओ। वहाँ घी के माल ढेर मिलते हैं, घी के कुएं ही बने हुए हैं। खाते फिर कौन हैं? पुजारी। श्रीनाथ और जगन्नाथ दोनों को काला बनाया है। जगन्नाथ के मन्दिर में देवताओं के गन्दे चित्र हैं, वहाँ चावल का हाण्डा बनाते हैं। वह पक जाने से 4 भाग हो जाते हैं। सिर्फ चावल का ही भोग लगता है क्योंकि अभी साधारण है ना। इस तरफ गरीब और उस तरफ साहूकार। अभी तो देखो कितने गरीब हैं। खाने-पीने को कुछ नहीं मिलता है। सतयुग में तो सब कुछ है। तो बाप आत्माओं को बैठ समझाते हैं। शिवबाबा बहुत मीठा है। वह तो है निराकार, प्यार आत्मा को किया जाता है ना। आत्मा को ही बुलाया जाता है। शरीर तो जल गया। उनकी आत्मा को बुलाते हैं, ज्योति जगाते हैं, इससे सिद्ध है आत्मा को अन्धियारा होता है। आत्मा है ही शरीर रहित तो फिर अन्धियारे आदि की बात कैसे हो सकती है। वहाँ यह बातें होती नहीं। यह सब है भक्ति मार्ग। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। ज्ञान बहुत मीठा है। इसमें आंखे खोलकर सुनना होता है। बाप को तो देखेंगे ना। तुम जानते हो शिवबाबा यहाँ विराजमान है तो आंखे खोलकर बैठना चाहिए ना। बेहद के बाप को देखना चाहिए ना। आगे बच्चियाँ बाबा को देखने से ही ध्यान में चली जाती थी, आपस में भी बैठे-बैठे ध्यान में चले जाते थे। आंखें बन्द और दौड़ती रहती थी। कमाल तो थी ना। बाप समझाते रहते हैं एक-दो को देखते हो तो ऐसे समझो – हम भाई (आत्मा) से बात करते हैं, भाई को समझाते हैं। तुम बेहद के बाप की राय नहीं मानेंगे? तुम यह अन्तिम जन्म पवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। बाबा बहुतों को समझाते हैं। कोई तो फट से कह देते हैं बाबा हम जरूर पवित्र बनेंगे। पवित्र रहना तो अच्छा है। कुमारी पवित्र है तो सब उनको माथा टेकते हैं। शादी करती है तो पुजारी बन पड़ती है। सबको माथा टेकना पड़ता है। तो प्योरिटी अच्छी है ना। प्योरिटी है तो पीस प्रासपर्टी है। सारा मदार पवित्रता पर है। बुलाते भी हैं हे पतित-पावन आओ। पावन दुनिया में रावण होता ही नहीं। वह है ही रामराज्य, सब क्षीरखण्ड रहते हैं। धर्म का राज्य है फिर रावण कहाँ से आया। रामायण आदि कितना प्रेम से बैठ सुनाते हैं। यह सब है भक्ति। तो बच्चियाँ साक्षात्कार में डांस करने लग पड़ती हैं। सच की बेड़ी का तो गायन है – हिलेगी लेकिन डूबेगी नहीं। और कोई सतसंग में जाने की मना नहीं करते। यहाँ कितना रोकते हैं। बाप तुमको ज्ञान देते हैं। तुम बनते हो बी.के.। ब्राह्मण तो जरूर बनना है। बाप है ही स्वर्ग की स्थापना करने वाला तो जरूर हम भी स्वर्ग के मालिक होने चाहिए। हम यहाँ नर्क में क्यों पड़े हैं। अभी समझ में आता है कि आगे हम भी पुजारी थे, अभी फिर पूज्य बनते हैं 21 जन्मों के लिए। 63 जन्म पुजारी बने, अभी फिर हम पूज्य स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यह है नर से नारायण बनने की नॉलेज। भगवानुवाच मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। पतित राजायें पावन राजाओं को नमन वन्दन करते हैं। हर एक महाराजा के महलों में मन्दिर जरूर होगा। वह भी राधे-कृष्ण का या लक्ष्मी-नारायण का या राम-सीता का। आजकल तो गणेश, हनूमान आदि के भी मन्दिर बनाते रहते हैं। भक्ति मार्ग में कितनी अन्धश्रद्धा है। अभी तुम समझते हो बरोबर हमने राजाई की फिर वाम मार्ग में गिरते हैं, अब बाप समझाते हैं तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। मीठे-मीठे बच्चे पहले तुम स्वर्ग में थे। फिर उतरते-उतरते पट आकर पड़े हो। तुम कहेंगे हम बहुत ऊंच थे फिर बाप हमको ऊंच चढ़ाते हैं। हम हर 5 हज़ार वर्ष बाद पढ़ते ही आते हैं। इसको कहा जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट।

बाबा कहते हैं मैं तुम बच्चों को विश्व का मालिक बनाता हूँ। सारे विश्व में तुम्हारा राज्य होगा। गीत में भी है ना – बाबा आप ऐसा राज्य देते हो जो कोई छीन न सके। अभी तो कितनी पार्टीशन है। पानी के ऊपर, जमीन के ऊपर झगड़ा चलता रहता है। अपने-अपने प्रान्त की सम्भाल करते रहते हैं। न करें तो छोकरे लोग (बच्चे लोग) पत्थर मारने लग पड़ें। वो लोग समझते हैं यह नव जवान पहलवान बन भारत की रक्षा करेंगे। सो पहलवानी अभी दिखलाते रहते हैं। दुनिया की हालत देखो कैसी है। रावण राज्य है ना।

बाप कहते हैं यह है ही आसुरी सम्प्रदाय। तुम अभी दैवी सम्प्रदाय बन रहे हो। देवताओं और असुरों की फिर लड़ाई कैसे होगी। तुम तो डबल अहिंसक बनते हो। वह हैं डबल अहिंसक। देवी-देवताओं को डबल अहिंसक कहा जाता है। अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म कहा जाता है। बाबा ने समझाया – किसको वाचा से दु:ख देना भी हिंसा है। तुम देवता बनते हो तो हर बात में रॉयल्टी होनी चाहिए। खान-पान आदि न बहुत ऊंचा, न बहुत हल्का। एकरस। राजाओं आदि का बोलना बहुत कम होता है। प्रजा का भी राजा में बहुत प्यार रहता है। यहाँ तो देखो क्या लगा पड़ा है। कितने आन्दोलन हैं। बाप कहते हैं जब ऐसी हालत हो जाती है तब मैं आकर विश्व में शान्ति करता हूँ। गवर्मेन्ट चाहती है – सब मिलकर एक हो जाएं। भल सब ब्रदर्स तो हैं परन्तु यह तो खेल है ना। बाप कहते हैं बच्चों को, तुम कोई फिक्र नहीं करो। अनाज की अभी तकलीफ है। वहाँ तो अनाज इतना हो जायेगा, बिगर पैसे जितना चाहे उतना मिलता रहेगा। अभी वह दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। हम हेल्थ को भी ऐसा बना देते हैं जो कभी कोई रोग होवे ही नहीं, गैरन्टी है। कैरेक्टर भी हम इन देवताओं जैसा बनाते हैं। जैसा-जैसा मिनिस्टर हो ऐसा उनको समझा सकते हैं। युक्ति से समझाना चाहिए। ओपीनियन में बहुत अच्छा लिखते हैं। परन्तु अरे तुम भी तो समझो ना। तो कहते हैं फुर्सत नहीं। तुम बड़े लोग कुछ आवाज़ करेंगे तो गरीबों का भी भला होगा।

बाप समझाते हैं अभी सबके सिर पर काल खड़ा है। आजकल करते-करते काल खा जायेगा। तुम कुम्भकरण मिसल बन पड़े हो। बच्चों को समझाने में बहुत मज़ा भी आता है। बाबा ने ही यह चित्र आदि बनवाये हैं। दादा को थोड़ेही यह ज्ञान था। तुमको वर्सा लौकिक और पारलौकिक बाप से मिलता है। अलौकिक बाप से वर्सा नहीं मिलता है। यह तो दलाल है, इनका वर्सा नहीं है। प्रजापिता ब्रह्मा को याद नहीं करना है। मेरे से तो तुमको कुछ भी नहीं मिलता है। मैं भी पढ़ता हूँ, वर्सा है ही एक हद का, दूसरा बेहद के बाप का। प्रजापिता ब्रह्मा क्या वर्सा देंगे। बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो, यह तो रथ है ना। रथ को तो याद नहीं करना है ना। ऊंच ते ऊंच भगवान कहा जाता है। बाप आत्माओं को बैठ समझाते हैं। आत्मा ही सब कुछ करती है ना। एक खाल छोड़ दूसरी लेती है। जैसे सर्प का मिसाल है। भ्रमरियाँ भी तुम हो। ज्ञान की भूं-भूं करो। ज्ञान सुनाते-सुनाते तुम किसी को भी विश्व का मालिक बना सकते हो। बाप जो तुम्हें विश्व का मालिक बनाते हैं ऐसे बाप को क्यों नहीं याद करेंगे। अब बाप आया हुआ है तो वर्सा क्यों नहीं लेना चाहिए। ऐसे क्यों कहते कि फुर्सत नहीं मिलती है। अच्छे-अच्छे बच्चे तो सेकेण्ड में समझ जाते हैं। बाबा ने समझाया है – मनुष्य लक्ष्मी की पूजा करते हैं, अब लक्ष्मी से क्या मिलता है और अम्बा से क्या मिलता है? लक्ष्मी तो है स्वर्ग की देवी। उनसे पैसे की भीख मांगते हैं। अम्बा तो विश्व का मालिक बनाती है। सब कामनायें पूरी कर देती है। श्रीमत द्वारा सब कामनायें पूरी हो जाती हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इन कर्मेन्द्रियों से कोई भूल न हो इसके लिए मैं आत्मा हूँ, यह स्मृति पक्की करनी है। शरीर को नहीं देखना है। एक बाप की तरफ अटेन्शन देना है।

2) अभी वानप्रस्थ अवस्था है इसलिए वाणी से परे जाने का पुरूषार्थ करना है, पवित्र जरूर बनना है। बुद्धि में रहे – सच की नईया हिलेगी, डूबेगी नहीं… इसलिए विघ्नों से घबराना नहीं है।

वरदान:- अहम् और वहम को समाप्त कर रहमदिल बनने वाले विश्व कल्याणकारी भव
कैसी भी अवगुण वाली, कड़े संस्कार वाली, कम बुद्धि वाली, सदा ग्लानि करने वाली आत्मा हो लेकिन जो रहमदिल विश्व कल्याणकारी बच्चे हैं वे सर्व आत्माओं के प्रति लॉफुल के साथ लवफुल होंगे। कभी इस वहम में नहीं आयेंगे कि यह तो कभी बदल ही नहीं सकते, यह तो हैं ही ऐसे….या यह कुछ नहीं कर सकते, मैं ही सब कुछ हूँ..यह कुछ नहीं हैं। इस प्रकार का अहम् और वहम छोड़, कमजोरियों वा बुराइयों को जानते हुए भी क्षमा करने वाले रहमदिल बच्चे ही विश्व कल्याण की सेवा में सफल होते हैं।
स्लोगन:- जहाँ ब्राह्मणों के तन-मन-धन का सहयोग है वहाँ सफलता साथ है।

TODAY MURLI 3 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 December 2019

03/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your records of songs are like a life-giving herb. By playing these songs, all your feelings of wilting (feeling low) will be removed.
Question: Why does your stage become spoilt? What method should you use to keep your stage good?
Answer: 1) Instead of dancing in knowledge, you waste your time gossiping and this is why your stage is spoilt.
2) When you make others unhappy, your stage is affected. Your stage will be good when you remain very sweet and pay full attention to having remembrance. Before going to sleep at night, sit in remembrance for at least half an hour. Then, when you wake up in the morning, sit again in remembrance. This will keep your stage good.
Song: Who has come to the door of my mind in the early morning hours of nectar?

Om shanti. Baba had this record made for you children. No one, but you children, can understand the meaning of it. Baba has told you many times that you should keep such good records at home. Then, when you wilt, you can play these records and their meanings will instantly enter your intellects and you won’t stay wilted. These records are like a life-giving herb. Baba gives directions, but you should put them into practice. Who says in the song: Who came into my, your, everyone’s mind? Who came? The One who comes now and performs the dance of knowledge. It is said that the gopis used to make Krishna dance, but it was not like that. Baba now says: Oh saligram children! He says this to everyone. A school means a place of study where education takes place. This too is a school. You children know whom you keep in your hearts. These things are not in the intellects of other human beings. This is the only time when you children remember Him; no one else remembers Him. The Father says: Remember Me every day and you will be able to imbibe knowledge very well. You don’t remember Me according to the directions I give you. Maya does not allow you to remember Me. You follow My directions very little whereas you follow Maya’s directions a lot. I have told you many times that, before you go to sleep at night, you should sit in remembrance of Baba for half an hour. If you are a couple, you can sit together or separately, but just keep the one Father in your intellects. However, hardly any of you remember Him; Maya makes you forget. How will you be able to claim a status if you don’t follow Baba’s orders? You have to remember Baba a great deal. Shiv Baba, You are the Father of all souls. Everyone is to receive an inheritance from You. Even those who do not make any effort will receive an inheritance; everyone will become a master of Brahmand. According to the drama, even though they do nothing, all souls will go to the land of nirvana. However, even those who perform devotion for half a cycle cannot return home until I come as the Guide. No one has seen the way home. If someone had seen it, others would follow him like a swarm of mosquitoes. No one knows what the incorporeal world is. You know that this is predestined in the drama; it has to repeat. You have to be a karma yogi and continue with your business during the day; you have to cook and do all your housework etc. In fact, it is wrong to speak of renunciation of action. No one can live without performing actions. The title “Renunciates of Action” that they give themselves is false. Carry on with your business etc. during the day, but also remember the Father very well in the morning and at night. If you remember the One who now belongs to you, you receive help. Otherwise, you do not receive help. When wealthy people hear that they now have to belong to the Father, their hearts shrink. Therefore, they won’t receive a status. It is very easy to remember Him. He is our Father, Teacher and Guru. He has told us all the secrets of how the history and geography of the world repeat. You have to remember the Father and also spin the discus of self-realisation. Only the Father takes everyone back home. You should have such thoughts. Before you go to sleep at night, you should turn this knowledge around in your intellects. Then, when you wake up in the morning, you would remember this same knowledge. First we are Brahmins, then we become deities, then warriors and merchants and then shudras. Then Baba will come and we will change from shudras to Brahmins. Baba is Trimurti, Trikaldarshi and Trinetri. He also opens the locks on our intellects. We each receive the third eye of knowledge. No one else could be such a Father. The Father creates creation and so He is also our Mother. He makes Jagadamba (world mother) the instrument to look after everyone. The Father enters this body and, in the form of Brahma, plays with us children. He also takes us for walks. We remember Baba. You know that He comes and enters this one’s chariot. You say that BapDada plays with us. Even whilst playing, Baba makes effort to stay in remembrance. Baba says: I play with you through this one. He is the Sentient Being. You should have such thoughts. You also have to surrender yourself to that Father. On the path of devotion, you used to say that you would surrender to Him. The Father says: Now make Me your Heir for this one birth and I will give you your fortune of the kingdom for 21 births. You should follow the directions that that One gives you. He gives directions according to what He sees. When you follow His directions, all your attachment comes to an end. However, some children are afraid. Baba says: You do not surrender yourselves to Me. Therefore, how can I give you an inheritance? I won’t take your money. Baba says: Achcha, if you have some money, use it for literature. You are trustees. Baba continues to advise you. Everything that Baba has is for you children. He takes nothing from you children. He explains to you tactfully so that your attachment can finish. Attachment is a very strong vice. Baba says: Why do you remain attached to them like monkeys? How could there then be a temple in every home? I liberate you from your monkey life and make you worthy of being worshipped in a temple. Why do you have attachment to that rubbish? Baba simply gives you directions on how to look after everything. In spite of that, it doesn’t sit in your intellects. You have to use your intellects to understand all of this. Baba also advises you how to talk to Baba at amrit vela. Baba, You are our unlimited Father and Teacher. Only You alone can tell us the unlimited history and geography of the world. No one in the world knows the story of the 84 births of Lakshmi and Narayan. Jagadamba too is called mother. Who is she? She cannot exist in the golden age. The empress and emperor there are Lakshmi and Narayan. They have their own child who will sit on the throne. How can we become their children who could then sit on the throne? We now know that Jagadamba is a Brahmin. She is Saraswati, the daughter of Brahma. People do not know this secret. It is very good to keep the discipline of remembering Baba at night. When you make this your discipline, your mercury of happiness will remain high and you won’t experience any difficulty. You say that you are brothers and sisters, children of the one Father. In that case, to have dirty vision is like committing criminal assault. There are sato, rajo and tamo types of intoxication. If your intoxication is tamoguni, you will die. Make the remembrance of Baba your discipline for even a short time and then go and do Baba’s service. By doing this, you won’t experience any storms of Maya. Your intoxication will last throughout the day and your stage will be very refined. Your line of yoga too will become clear. Such records are very good. When you continue to listen to such records, you will begin to dance and you will become refreshed. There are four to five records that are very good. When the poor keep busy doing this service, they will receive palaces. You can receive everything from Shiv Baba’s treasure store. Why would Baba not give anything to His serviceable children? Shiv Baba’s treasure store is always full. In the song that was played, the dance is the dance of knowledge. Baba comes and makes you gopes and gopis perform the dance of knowledge. Wherever you may be sitting, continue to remember the Father and your stage will remain very good. Just as Baba remains in the intoxication of this knowledge and yoga, so he teaches you children the same. Therefore, you should experience happiness from this intoxication. Otherwise, you just gossip and your stage becomes spoilt. It is very good to wake up early in the morning. Whilst sitting in remembrance of Baba, talk to Baba very sweetly. Even those who give lectures have to churn the ocean of knowledge and think about ways of explaining particular points. Many children tell Baba that they want to leave their jobs. However, Baba says: First of all, give some proof of the service you do. Baba gives you very good methods to have remembrance, but only a handful out of multimillions emerge who instil this habit in themselves. Hardly any of you stay in remembrance. You kumaris are very well renowned. Everyone bows at the feet of kumaris. You enable Bharat to claim self-sovereignty for 21 births. There is also a temple as your memorial. The name “Brahma Kumars and Kumaris” has become very famous. A kumari is one who uplifts 21 generations. Therefore, you have to understand the meaning of that. You children know that this reel lasts for 5000 years. Whatever passes is in the drama. When a mistake happens, that is part of the drama. However, you must put your register right and not allow it to be spoilt again in future. This requires a lot of effort, for only then can you claim such a high status. Once you belong to Baba, Baba will give you your inheritance. He doesn’t give this inheritance to stepchildren. It is His duty to help. Those who are sensible help in every respect. Look how much the Father helps you! When you remain courageous you receive help from the Father. You also need strength to conquer Maya. Remember the one spiritual Father. Break all your attachment away from everyone else and connect yourself to only the One. Baba is the Ocean of Knowledge. He says: I enter this one and speak. No one else could claim to be your Father, Teacher and Guru, that he is the creator of Brahma, Vishnu and Shankar. Only you children now understand these things. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. End all your attachment to old rubbish. Follow the Father’s directions and end your attachment. Live as a trustee.
  2. In this last birth, make God your Heir and surrender yourself to Him, for only then will you receive your fortune of the kingdom for 21 births. Remember the Father and do service. Maintain your intoxication and pay attention to your register so that it never becomes spoilt.
Blessing: May you be an image of tapasya who frees yourself and the world from obstacles with your love for God.
To have love for the one God is tapasya. It is this power of tapasya that can free oneself and the world from obstacles for all time. To be free from obstacles and to free others from obstacles is your true service of liberating all souls from many type of obstacles. On the basis of their tapasya, such serviceable children claim from the Father the blessing of having liberation in life and of becoming instruments to give this to others.
Slogan: Gather together the love that has scattered everywhere and have love for the one Father and you will be liberated from having to work hard.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 December 2019

03-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारे यह रिकार्ड संजीवनी बूटी हैं, इन्हें बजाने से मुरझाइस निकल जायेगी”
प्रश्नः- अवस्था बिगड़ने का कारण क्या है? किस युक्ति से अवस्था बहुत अच्छी रह सकती है?
उत्तर:- 1. ज्ञान की डांस नहीं करते, झरमुई झगमुई में अपना समय गँवा देते हैं इसलिए अवस्था बिगड़ जाती है। 2. दूसरों को दु:ख देते हैं तो भी उसका असर अवस्था पर आता है। अवस्था अच्छी तब रहेगी जब मीठा होकर चलेंगे। याद पर पूरा अटेन्शन होगा। रात को सोने के पहले कम से कम आधा घण्टा याद में बैठो फिर सवेरे उठकर याद करो तो अवस्था अच्छी रहेगी।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे……

ओम् शान्ति। यह रिकॉर्ड भी बाबा ने बनवाये हैं बच्चों के लिए। इनका अर्थ भी बच्चों के सिवाए कोई जान नहीं सकते। बाबा ने कई बार समझाया है कि ऐसे अच्छे-अच्छे रिकॉर्ड घर में रहने चाहिए फिर कोई मुरझाइस आती है तो रिकॉर्ड बजाने से बुद्धि में झट अर्थ आयेगा तो मुरझाइस निकल जायेगी। यह रिकॉर्ड भी संजीवनी बूटी है। बाबा डायरेक्शन तो देते हैं परन्तु कोई अमल में लाये। अब यह गीत में कौन कहते हैं कि हमारे तुम्हारे सबके दिल में कौन आया है! जो आकर ज्ञान डांस करते हैं। कहते हैं गोपिकायें कृष्ण को नाच नचाती थी, यह तो है नहीं। अब बाबा कहते हैं-हे सालिग्राम बच्चे। सबको कहते हैं ना। स्कूल माना स्कूल, जहाँ पढ़ाई होती है, यह भी स्कूल है। तुम बच्चे जानते हो हमारी दिल में किसकी याद आती है! और कोई भी मनुष्य मात्र की बुद्धि में यह बातें नहीं हैं। यह एक ही समय है जबकि तुम बच्चों को उनकी याद रहती है और कोई उनको याद नहीं करते। बाप कहते हैं तुम रोज़ मुझे याद करो तो धारणा बहुत अच्छी होगी। जैसे मैं डायरेक्शन देता हूँ वैसे तुम याद करते नहीं हो। माया तुमको याद करने नहीं देती है। मेरे कहने पर तुम बहुत कम चलते हो और माया के कहने पर बहुत चलते हो। कई बार कहा है-रात को जब सोते हो तो आधा घण्टा बाबा की याद में बैठ जाना चाहिए। भल स्त्री-पुरूष हैं, इकट्ठे बैठें वा अलग-अलग बैठें। बुद्धि में एक बाप की ही याद रहे। परन्तु कोई विरले ही याद करते हैं। माया भुला देती है। फरमान पर नहीं चलेंगे तो पद कैसे पा सकेंगे। बाबा को बहुत याद करना है। शिवबाबा आप ही आत्माओं के बाप हो। सबको आपसे ही वर्सा मिलना है। जो पुरूषार्थ नहीं करते हैं उनको भी वर्सा मिलेगा, ब्रह्माण्ड के मालिक तो सब बनेंगे। सब आत्मायें निर्वाणधाम में आयेंगी ड्रामा अनुसार। भल कुछ भी न करें। आधाकल्प भल भक्ति करते हैं परन्तु वापिस कोई जा नहीं सकते, जब तक मैं गाइड बनकर न आऊं। कोई ने रास्ता देखा ही नहीं है। अगर देखा हो तो उनके पिछाड़ी सब मच्छरों सदृश्य जाएं। मूलवतन क्या है-यह भी कोई जानते नहीं। तुम जानते हो यह बना-बनाया ड्रामा है, इनको ही रिपीट करना है। अब दिन में तो कर्मयोगी बन धन्धे में लगना है। खाना पकाना आदि सब कर्म करना है, वास्तव में कर्म सन्यास कहना भी रांग है। कर्म बिगर तो कोई रह न सके। कर्म सन्यासी झूठा नाम रख दिया है। तो दिन को भल धन्धा आदि करो, रात में और सवेरे-सवेरे बाप को अच्छी तरह से याद करो। जिसको अब अपनाया है, उसको याद करेंगे तो मदद भी मिलेगी। नहीं तो नहीं मिलेगी। साहूकारों को तो बाप का बनने में हृदय विदीर्ण होता है तो फिर पद भी नहीं मिलेगा। यह याद करना तो बहुत सहज है। वह हमारा बाप, टीचर, गुरू है। हमको सारा राज़ बतलाया है-यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है। बाप को याद करना है और फिर स्वदर्शन चक्र फिराना है। सबको वापिस ले जाने वाला तो बाप ही है। ऐसे-ऐसे ख्यालात में रहना चाहिए। रात को सोते समय भी यह नॉलेज घूमती रहे। सुबह को उठते भी यही नॉलेज याद रहे। हम ब्राह्मण सो देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। फिर बाबा आयेंगे फिर हम शूद्र से ब्राह्मण बनेंगे। बाबा त्रिमूर्ति, त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री भी है। हमारी बुद्धि खोल देते हैं। तीसरा नेत्र भी ज्ञान का मिलता है। ऐसा बाप तो कोई हो नहीं सकता। बाप रचना रचते हैं तो माता भी हो गई। जगत अम्बा को निमित्त बनाते हैं। बाप इस तन में आकर ब्रह्मा रूप से खेलते-कूदते भी हैं। घूमने भी जाते हैं। हम बाबा को याद तो करते हैं ना! तुम जानते हो इनके रथ में आते हैं। तुम कहेंगे बापदादा हमारे साथ खेलते हैं। खेल में भी बाबा पुरूषार्थ करता है याद करने का। बाबा कहते हैं मैं इनके द्वारा खेल रहा हूँ। चैतन्य तो है ना। तो ऐसे ख्याल रखना चाहिए। ऐसे बाप के ऊपर बलि भी चढ़ना है। भक्ति मार्ग में तुम गाते आये हो वारी जाऊं…… अब बाप कहते हैं हमको यह एक जन्म अपना वारिस बनाओ तो हम 21 जन्मों के लिए राज्य-भाग्य देंगे। अब यह फरमान देवे तो उस डायरेक्शन पर चलना है। वह भी जैसा देखेंगे ऐसा डायरेक्शन देंगे। डायरेक्शन पर चलने से ममत्व मिट जायेगा, परन्तु डरते हैं। बाबा कहते हैं तुम बलि नहीं चढ़ते हो तो हम वर्सा कैसे देंगे। तुम्हारे पैसे कोई ले थोड़ेही जाते हैं। कहेंगे, अच्छा तुम्हारे पैसे हैं, लिटरेचर में लगा दो। ट्रस्टी हैं ना। बाबा राय देते रहेंगे। बाबा का सब कुछ बच्चों के लिए है। बच्चों से कुछ लेते नहीं हैं। युक्ति से समझा देते हैं सिर्फ ममत्व मिट जाए। मोह भी बड़ा कड़ा है। (बन्दर का मिसाल) बाबा कहते हैं तुम बन्दर मिसल उनके पिछाड़ी मोह क्यों रखते हो। फिर घर-घर में मन्दिर कैसे बनेंगे। हम तुमको बन्दरपने से छुड़ाए मन्दिर लायक बनाते हैं। तुम इस किचड़पट्टी में ममत्व क्यों रखते हो। बाबा सिर्फ मत देंगे-कैसे सम्भालो। तो भी बुद्धि में नहीं बैठता। यह सारा बुद्धि का काम है।

बाबा राय देते हैं अमृतवेले भी कैसे बाबा से बातें करो। बाबा, आप बेहद के बाप, टीचर हो। आप ही बेहद के वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी बता सकते हो। लक्ष्मी-नारायण के 84 जन्मों की कहानी दुनिया में कोई नहीं जानते। जगत अम्बा को माता-माता भी कहते हैं। वह कौन है? सतयुग में तो हो नहीं सकती। वहाँ के महारानी-महाराजा तो लक्ष्मी-नारायण हैं। उनको अपना बच्चा है जो तख्त पर बैठेंगे। हम कैसे उनके बच्चे बनेंगे जो तख्त पर बैठेंगे। अभी हम जानते हैं यह जगदम्बा ब्राह्मणी है, ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। मनुष्य थोड़ेही यह राज़ जानते हैं। रात को बाबा की याद में बैठने का नियम रखो तो बहुत अच्छा है। नियम बनायेंगे तो तुमको खुशी का पारा चढ़ा रहेगा फिर और कोई कष्ट नहीं होंगे। कहेंगे एक बाप के बच्चे हम भाई-बहन हैं। फिर गन्दी दृष्टि रखना क्रिमिनल एसाल्ट हो जायेगी। नशा भी सतो, रजो, तमोगुणी होता है ना। तमोगुणी नशा चढ़ा तो मर पड़ेंगे। यह तो नियम बना लो-थोड़ा भी समय बाबा को याद कर बाबा की सर्विस पर जाओ। फिर माया के तूफान नहीं आयेंगे। वह नशा दिन भर चलेगा और अवस्था भी बड़ी रिफाइन हो जायेगी। योग में भी लाइन क्लीयर हो जायेगी। ऐसे-ऐसे रिकार्ड भी बहुत अच्छे हैं, रिकार्ड सुनते रहेंगे तो नाचना शुरू कर देंगे, रिफ्रेश हो जायेंगे। दो, चार, पांच रिकॉर्ड बड़े अच्छे हैं। गरीब भी बाबा की इस सर्विस में लग जाएं तो उनको महल मिल सकते हैं। शिवबाबा के भण्डारे से सब कुछ मिल सकता है। सर्विसएबुल को बाबा क्यों नहीं देंगे। शिवबाबा का भण्डारा भरपूर ही है।

(गीत) यह है ज्ञान डांस। बाप आकर ज्ञान डांस कराते हैं गोप-गोपियों को। कहाँ भी बैठे हो बाबा को याद करते रहो तो अवस्था बहुत अच्छी रहेगी। जैसे बाबा ज्ञान और योग के नशे में रहते हैं तुम बच्चों को भी सिखलाते हैं। तो खुशी का नशा रहेगा। नहीं तो झरमुई-झगमुई में रहने से फिर अवस्था ही बिगड़ जाती है। सुबह को उठना तो बहुत अच्छा है। बाबा की याद में बैठ बाबा से मीठी-मीठी बातें करनी चाहिए। भाषण करने वालों को तो विचार सागर मंथन करना पड़े। आज इन प्वाइंट्स पर समझायेंगे, ऐसे समझायेंगे। बाबा को बहुत बच्चे कहते हैं हम नौकरी छोड़ें? परन्तु बाबा कहते हैं पहले सर्विस का सबूत तो दो। बाबा ने याद की युक्ति बहुत अच्छी बताई है। परन्तु कोटों में कोई निकलेंगे जिनको यह आदत पड़ेगी। कोई को मुश्किल याद रहती है। तुम कुमारियों का नाम तो मशहूर है। कुमारी को सब पांव पड़ते हैं। तुम 21 जन्मों के लिए भारत को स्वराज्य दिलाते हो। तुम्हारा यादगार मन्दिर भी है। ब्रह्माकुमार-कुमारियों का नाम भी मशहूर हो गया है ना। कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। तो उनका अर्थ भी समझना पड़े। तुम बच्चे जानते हो यह 5 हज़ार वर्ष का रील है, जो कुछ पास हुआ है वह ड्रामा। भूल हुई ड्रामा। फिर आगे के लिए अपना रजिस्टर ठीक कर देना चाहिए। फिर रजिस्टर खराब नहीं होना चाहिए। बहुत बड़ी मेहनत है तब इतना ऊंच पद मिलेगा। बाबा का बन गया तो फिर बाबा वर्सा भी देंगे। सौतेले को थोड़ेही वर्सा देंगे। मदद देना तो फ़र्ज है। सेन्सीबुल जो हैं वह हर बात में मदद करते हैं। बाप देखो कितनी मदद करते हैं। हिम्मते मर्दा मददे खुदा। माया पर जीत पाने में भी ताकत चाहिए। एक रूहानी बाप को याद करना है, और संग तोड़ एक संग जोड़ना है। बाबा है ज्ञान का सागर। वह कहते हैं मैं इनमें प्रवेश करता हूँ, बोलता हूँ। और तो कोई ऐसे कह न सके कि मैं बाप, टीचर, गुरू हूँ। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचने वाला हूँ। इन बातों को अभी तुम बच्चे ही समझ सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पुरानी किचड़पट्टी में ममत्व नहीं रखना है, बाप के डायरेक्शन पर चलकर अपना ममत्व मिटाना है। ट्रस्टी बनकर रहना है।

2) इस अन्तिम जन्म में भगवान को अपना वारिस बनाकर उन पर बलि चढ़ना है, तब 21 जन्मों का राज्य भाग्य मिलेगा। बाप को याद कर सर्विस करनी है, नशे में रहना है, रजिस्टर कभी खराब न हो यह ध्यान देना है।

वरदान:- परमात्म लगन से स्वयं को वा विश्व को निर्विघ्न बनाने वाले तपस्वीमूर्त भव
एक परमात्म लगन में रहना ही तपस्या है। इस तपस्या का बल ही स्वयं को और विश्व को सदा के लिए निर्विघ्न बना सकता है। निर्विघ्न रहना और निर्विघ्न बनाना ही आपकी सच्ची सेवा है, जो अनेक प्रकार के विघ्नों से सर्व आत्माओं को मुक्त कर देती है। ऐसे सेवाधारी बच्चे तपस्या के आधार पर बाप से जीवनमुक्ति का वरदान लेकर औरों को दिलाने के निमित्त बन जाते हैं।
स्लोगन:- बिखरे हुए स्नेह को समेट कर एक बाप से स्नेह रखो तो मेहनत से छूट जायेंगे।
Font Resize