daily murli 28 december

TODAY MURLI 28 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 December 2020

28/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, charity begins at home. This means that you first of all have to make effort to become soul conscious and then tell others. When you give knowledge to others, whilst considering yourself to be a soul, the sword of knowledge will be filled with power.
Question: By making effort in which two aspects at the confluence age will you become the masters of the golden-aged throne?
Answer: 1.Make the effort to maintain a stage of equanimity in happiness and sorrow and in praise and defamation. If someone says wrong things or becomes angry, just remain quiet; don’t respond.
2. Make your eyes civilCriminal eyes should completely finish. We souls are brothers. Give knowledge to others while considering them to be souls. Make the effort to become soul conscious and you will become the masters of the golden-aged throne. Only those who become completely pure will be seated on the throne.

Om shanti. The spiritual Father speaks to the spiritual children. Each of you souls has received a third eye which can also be called the eye of knowledge. You see your brothers with this eye. You understand with your intellects that, when you see others as brothers, your sense organs won’t make mischief. When you continue to do this, the eyes that have become criminal will become civil. The Father says: You do have to make some effort in order to become the masters of the world! Therefore, now make this effort. In order for you to make effort, Baba gives you new and deep points every day. Therefore, now, instil the habit of giving knowledge to others while considering them to be brothers. Then the saying “We are all brothers” will become practical. You are now true brothers because you know your Father. The Father is doing service along with you children. When you children maintain courage, the Father helps. So the Father comes and gives you the courage to do service. Therefore, this is easy, is it not? You have to practise this every day; do not be lazy. You children receive these new points. You children know that Baba is teaching you brothers. Souls are studying this spiritual knowledge. It is called spiritual knowledge. Only at this time do you receive spiritual knowledge from the spiritual Father because He only comes at the confluence age when the world has to change. Only when the world has to change do you receive this spiritual knowledge. The Father comes and gives you spiritual knowledge: Consider yourselves to be souls. You souls came bodiless and you then adopted bodies here. You have taken 84 births from the beginning. Just as you come down, numberwise, in the same way, you make effort, numberwise, in knowledge and yoga. Then, it is seen that whatever effort each of you made in the previous cycle, that is being made in the same way now. Each of you has to make effort for yourself. You are not going to make effort for anyone else. You have to make effort for yourself by considering yourself to be a soul. What does it matter to you what others are doing? “Charity begins at home” means that you yourself have to make effort first and then ask others (your brothers) to do the same. When you first consider yourself to be a soul and give knowledge to souls, your sword of knowledge will then be filled with power. This does require some effort. Therefore, you definitely have to tolerate something or other. It is at this time that happiness and sorrow, respect and disrespect, praise and defamation all have to be tolerated a little. Whenever anyone says wrong things, just remain quiet. When one person becomes quiet, the other one can’t become angry. When one person says something and the other person responds in the same way, that is like clapping with the mouth. If one person says something but the other one remains quiet, everything then quietens down. This is what the Father teaches. Whenever you see someone becoming angry, just remain quiet and that person’s anger will automatically cool down. There won’t be any clapping (response) then. When there is some response, there will be conflict and this is why the Father says: Children, never respond in the same way over such matters, in either of the vices of lust or anger. You children have to benefit everyone. Why have so many centres been created? Such centres would also have been established in the previous cycle. The Father, the Deity of all deities, continues to see that many children are interested in opening a centre. They say: I will open a centre and pay all the expenses. Day by day, it will continue to happen like that because, as the time for destruction comes closer interest in doing service of this kind will increase. Bap and Dada are now together. Therefore, they are looking at each of you to see what effort you are making and what status you will receive. The efforts of some are the highest level, those of others are mediocre and those of some are the lowest. This can be seen. In a school too, a teacher sees in which subjects the students fluctuate. It is the same here. Some children pay attention very well and so they consider themselves to be the highest. Sometimes, they make a mistake and don’t stay in remembrance. Therefore, they consider themselves to be very low. This is a school. Children say: Baba, sometimes, I am very happy but at other times, my happiness decreases. Therefore, Baba continues to explain: If you want to be happy, become “Manmanabhav”! Consider yourself to be a soul and remember the Father! Just as you look at the Supreme Soul in front of you and you see that He is sitting on the Immortal Throne, in the same way, look at your brothers while considering yourself to be a soul, and then talk to them. I am giving knowledge to my brother; not to a sister, but to a brother. You are giving knowledge to souls. When you instil this habit, your criminal eye, which has been deceiving you will gradually stop. What would a soul do to a soul? It is when there is body consciousness that you fall. Many say: Baba, my eyes are criminal. Achcha, in that case, now make your criminal eyes civil. The Father has given each of you souls a third eye. When you look at everything with your third eye, your habit of looking at the bodies will finish. Baba continues to give directions to the children. He also says the same thing to this one (Brahma). This Baba also has to look at the soul in the body. Therefore, this is called spiritual knowledge. Look how elevated the status you receive is! It is a very powerful status. Therefore, you also have to make effort accordingly. Baba also understands that everyone’s efforts will be the same as they were in the previous cycle. Some will become kings and queens and some will become part of the subjects. So, when you especially conduct meditation for everyone and consider yourself to be a soul while looking at other souls in the centre of their foreheads, the servicethey do will be very good. Those who sit here in soul consciousness only look at souls. Practise this a great deal. If you want to claim a high status, you have to make some effort. This is the only effort you souls have to make. You only receive this spiritual knowledge once; you cannot receive it at any other time. It cannot be received in the iron age or the golden age; it can only be received at the confluence age and, in that too, only Brahmins receive it. Remember this very firmly. Only when you first become Brahmins can you then become deities. How could you become deities if you didn’t become Brahmins? It is only at this confluence age that you make this effort. At no other time will it be said: Consider yourself to be a soul and also consider others to be souls when giving them knowledge. Churn everything that the Father explains to you. Judge for yourself whether it is right or not, whether it is beneficial for you. You will then instil in yourself the habit of giving your brothers the teachings that the Father has given you. These have to be given to females as well as males. After all, they have to be given to souls. It is souls that have become male or female, brothers or sisters. The Father says: I give you children knowledge. I look at you children and see souls, and you souls also understand that the Supreme Soul, who is your Father, is giving you knowledge. This is called having spiritual consciousness. This is called, “The give and take of spiritual knowledge of the Supreme Soul with souls”. The Father teaches you that whenever a visitor etc. comes, you have to consider yourself to be a soul and give the introduction of the Father to that soul. The soul, not the body, has knowledge. Therefore, give knowledge to that one while considering him to be a soul. When you do this they will also enjoy it. There will be power in your words. Because you become soul conscious, your sword of knowledge will be filled with power. Therefore, practise this and see for yourself! Baba says: Judge for yourself whether this too is right. This is not anything new for you children because the Father explains everything very easily. You have been around the cycle and the play is now coming to an end. You now have to stay in remembrance of Baba. You are becoming satopradhan from tamopradhan in order to become the masters of the satopradhan world. You will then come down the ladder again in the same way. Look how He explains in such a simple way! I have to come every 5000 years. I am bound by the drama plan. I come and teach you children this very easy pilgrimage of remembrance. By having remembrance of the Father, your final thoughts will lead you to your destination. This refers to this time. This is the final period of time. It is at this time that the Father sits here and shows you the way. He says: Constantly remember Me alone and you will receive salvation. Children understand what they are to become by studying. Here, too, you understand that you will go and become deities in the new world. This is not anything new. The Father repeatedly says: Nothing new! You have to go up and come down the ladder. There is the story of the genie: he was given the work of going up and down a ladder. This play is about going up and coming down. By staying on the pilgrimage of remembrance, you will become very strong. Therefore, the Father sits here and teaches you children different ways and says: Children now become soul conscious. Everyone now has to return home. You souls have become tamopradhan while taking the full 84 births. It is the people of Bharat who go through the stages of sato, rajo and tamo. None of those of other nationalities can be said to have taken the full 84 births. The Father has come and told you that everyone has his own part in the play. Souls are so tiny! Scientists cannot understand how an imperishable part is recorded in such a tiny soul. This is the most wonderful aspect! A soul is so tiny, but just see how big a part he plays; and that too is imperishable! This drama too is imperishable and also predestined. It isn’t that anyone should ask when it was created. No; this is nature. This knowledge is very wonderful. No one else can ever give this knowledge. No one else has the power to give this knowledge. Therefore, the Father explains to you children every day. Now practise: I am giving knowledge to my brother soul in order to make him similar to myself. He too has to claim his inheritance from the Father because all souls have a right. Baba comes to give all souls their inheritance of peace or happiness. When we are in our kingdom, all other souls are in the land of peace and then there will be the cries of victory. When we are there, there will only be happiness. This is why the Father says: Become pure! The greater your purity, the greater the attraction. When you become completely pure, you will be seated on the throne. So practise this! Don’t think that you have heard it and just let it out of the other ear. No, you cannot continue without practising considering yourself to be a soul while sitting and explaining to the other person, your brother soul. The spiritual Father explains to you spiritual children. This is called spiritual knowledge. The spiritual Father is the One who gives this. When you children become completely spiritual and pure, you will become the masters of the golden-aged throne. Those who don’t become pure will not become part of the rosary. There must be some significance in the rosary. No one else knows the secret of the rosary. Why do people turn the beads of a rosary? Because you helped the Father a great deal. So, why wouldn’t you be remembered? You are remembered and you are also worshipped; even your bodies are worshipped. However, with regard to Myself, it is just the soul that is worshipped. Look, you are worshipped in two ways – even more than I! Since you become deities, you are worshipped as deities (later on). This is why you are ahead of Me in being worshipped. You are ahead in having your memorial and you are also ahead in receiving your kingdom. Look how elevated I make you! There is a lot of love for lovely children. Those children are seated on the shoulder or the head. Baba places you children on top of the head. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become praiseworthy and worthy of being remembered, become spiritual. Make yourself, the soul, pure. Make effort to become soul conscious.
  2. Stay in infinite happiness by practising “Manmanabhav”. Consider yourself to be a soul and talk to souls. Make your eyes civil.
Blessing: May you be victorious over a long time and be threaded in the rosary of victory by always paying attention.
Those who are victorious over a long time become beads of the rosary of victory. In order to be victorious, always keep the Father in front of you: I have to do whatever the Father has done. At every step, whatever are the Father’s thoughts are the children’s thoughts, whatever are the Father’s words are the children’s words; only then will you be victorious. This attention needs to be paid all the time for only then will you receive the fortune of the kingdom for all time because as is your effort, so is your reward. If you make effort all the time, you will then receive the fortune of the kingdom for all the time.
Slogan: To constantly be present on service is the real proof of love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

28-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – चैरिटी बिगन्स एट होम अर्थात् पहले खुद आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करो फिर दूसरों को कहो, आत्मा समझकर आत्मा को ज्ञान दो तो ज्ञान तलवार में जौहर आ जायेगा”
प्रश्नः- संगमयुग पर किन दो बातों की मेहनत करने से सतयुगी तख्त के मालिक बन जायेंगे?
उत्तर:- 1. दु:ख-सुख, निंदा-स्तुति में समान स्थिति रहे – यह मेहनत करो। कोई भी कुछ उल्टा-सुल्टा बोले, क्रोध करे तो तुम चुप हो जाओ, कभी भी मुख की ताली नहीं बजाओ। 2. आंखों को सिविल बनाओ, क्रिमिनल आई बिल्कुल समाप्त हो जाए, हम आत्मा भाई-भाई हैं, आत्मा समझकर ज्ञान दो, आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करो तो सतयुगी तख्त के मालिक बन जायेंगे। सम्पूर्ण पवित्र बनने वाले ही गद्दी नशीन बनते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से बात करते हैं, तुम आत्माओं को यह तीसरा नेत्र मिला है जिसको ज्ञान का नेत्र भी कहा जाता है, उनसे तुम देखते हो अपने भाइयों को। तो यह बुद्धि से समझते हो ना कि जब हम भाई-भाई को देखेंगे तो कर्मेन्द्रियाँ चंचल नहीं होंगी। और ऐसे करते-करते आंखें जो क्रिमिनल हैं वह सिविल हो जायेंगी। बाप कहते हैं विश्व का मालिक बनने के लिए मेहनत तो करनी पड़ेगी ना। तो अभी यह मेहनत करो। मेहनत करने के लिए बाबा नई-नई गुह्य प्वाइंट्स सुनाते हैं ना। तो अभी अपने को भाई-भाई समझकर ज्ञान देने की आदत डालनी है। फिर यह जो गाया जाता है कि “वी आर ऑल ब्रदर्स” – यह प्रैक्टिकल हो जायेगा। अभी तुम सच्चे-सच्चे ब्रदर्स हो क्योंकि बाप को जानते हो। बाप तुम बच्चों के साथ सर्विस कर रहे हैं। हिम्मते बच्चे मददे बाप। तो बाप आकरके यह हिम्मत देते हैं सर्विस करने की। तो यह सहज हुआ ना। तो रोज़ यह प्रैक्टिस करनी पड़ेगी, सुस्त नहीं होना चाहिए। यह नई-नई प्वाइंट्स बच्चों को मिलती हैं, बच्चे जानते हैं कि हम भाइयों को बाबा पढ़ा रहे हैं। आत्मायें पढ़ती हैं, यह रूहानी नॉलेज है, इसे स्प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है। सिर्फ इस समय रूहानी नॉलेज, रूहानी बाप से मिलती है क्योंकि बाप आते ही हैं संगमयुग पर जबकि सृष्टि बदलती है, यह रूहानी नॉलेज मिलती भी तब है जब सृष्टि बदलने वाली है। बाप आकर यही तो रूहानी नॉलेज देते हैं कि अपने को आत्मा समझो। आत्मा नंगी (अशरीरी) आई थी, यहाँ फिर शरीर धारण करती है। शुरू से अब तक आत्मा ने 84 जन्म लिये हैं। परन्तु नम्बरवार जो जैसे आये होंगे, वह वैसे ही ज्ञान-योग की मेहनत करेंगे। फिर देखने में भी आता है कि जैसे जिसने कल्प पहले जो पुरूषार्थ किया, मेहनत किया वह अभी भी ऐसे ही मेहनत करते रहते हैं। अपने लिए मेहनत करनी है। दूसरे कोई के लिए तो नहीं करनी होती है। तो अपने को ही आत्मा समझ करके अपने साथ मेहनत करनी है। दूसरा क्या करता है, उसमें हमारा क्या जाता है। चैरिटी बिगन्स एट होम माना पहले-पहले खुद मेहनत करनी है, पीछे दूसरों को (भाइयों को) कहना है। जब तुम अपने को आत्मा समझ करके आत्मा को ज्ञान देंगे तो तुम्हारी ज्ञान तलवार में जौहर रहेगा। मेहनत तो है ना। तो जरूर कुछ न कुछ सहन करना पड़ता है। इस समय दु:ख-सुख, निंदा-स्तुति, मान-अपमान यह सब थोड़ा बहुत सहन करना पड़ता है। तो जब भी कोई उल्टा-सुल्टा बोलता है तो कहते हैं चुप। जब कोई चुप कर देते हैं तो पीछे कोई गुस्सा क्या करेंगे। जब कोई बात करते हैं और दूसरा भी बात करते हैं तो मुख की ताली बजती है। अगर एक ने मुख की ताली बजाई और दूसरे ने शान्त किया तो चुप। बस यह बाप सिखलाते हैं। कभी भी देखो कोई क्रोध में आते हैं तो चुप हो जाओ, आपेही उसका क्रोध शान्त हो जायेगा। दूसरी ताली बजेगी नहीं। अगर ताली से ताली बजी तो फिर गड़बड़ हो जाती है इसलिए बाप कहते हैं बच्चे कभी भी इन बातों में ताली नहीं बजाओ। न विकार की, न काम की, न क्रोध की।

बच्चों को हर एक का कल्याण करना ही है, इतने जो सेन्टर्स बने हुए हैं किसलिए? कल्प पहले भी तो ऐसे सेन्टर्स निकले होंगे। देवों का देव बाप देखते रहते हैं कि बहुत बच्चों को यह शौक रहता है कि बाबा सेन्टर्स खोलूं। हम सेन्टर खोलते हैं, हम खर्चा उठायेंगे। तो दिन-प्रतिदिन ऐसे होते जायेंगे क्योंकि जितना विनाश के दिन नज़दीक होते जायेंगे उतना फिर इस तरफ भी सर्विस का शौक बढ़ता जायेगा। अभी बापदादा दोनों इकट्ठे हैं तो हर एक को देखते हैं कि क्या पुरूषार्थ करते हैं? क्या पद पायेंगे? किसका पुरूषार्थ उत्तम, किसका मध्यम, किसका कनिष्ट है? वह तो देख रहे हैं। टीचर भी स्कूल में देखते हैं कि स्टूडेन्ट किस सब्जेक्ट में ऊपर-नीचे होते हैं। तो यहाँ भी ऐसे ही है। कोई बच्चे अच्छी तरह से अटेन्शन देते हैं तो अपने को ऊंचा समझते हैं। कोई समय फिर भूल करते हैं, याद में नहीं रहते हैं तो अपने को कम समझते हैं। यह स्कूल है ना। बच्चे कहते हैं बाबा हम कभी-कभी बहुत खुशी में रहते हैं, कभी-कभी खुशी कम हो जाती है। तो बाबा अभी समझाते रहते हैं कि अगर खुशी में रहना चाहते हो तो मनमनाभव, अपने को आत्मा समझो और बाप को भी याद करो। सामने परमात्मा को देखो तो वो अकाल तख्त पर बैठा हुआ है। ऐसे भाइयों की तरफ भी देखो, अपने को आत्मा समझ करके फिर भाई से बात करो। भाई को हम ज्ञान देते हैं। बहन नहीं, भाई-भाई। आत्माओं को ज्ञान देते हैं अगर यह आदत तुम्हारी पड़ जायेगी तो तुम्हारी जो क्रिमिनल आई है, जो तुमको धोखा देती है वह आहिस्ते-आहिस्ते बन्द हो जायेगी। आत्मा-आत्मा में क्या करेगी? जब देह-अभिमान आता है तब गिरते हैं। बहुत कहते हैं बाबा हमारी क्रिमिनल आई है। अच्छा क्रिमिनल आई को अभी सिविल आई बनाओ। बाप ने आत्मा को दिया ही है तीसरा नेत्र। तीसरे नेत्र से देखेंगे तो फिर तुम्हारी देह को देखने की आदत मिट जायेगी। बाबा बच्चों को डायरेक्शन तो देते रहते हैं, इनको (ब्रह्मा को) भी ऐसे ही कहते हैं। यह बाबा भी देह में आत्मा को देखेंगे। तो इसको ही कहा जाता है रूहानी नॉलेज। देखो, पद कितना ऊंच पाते हो। जबरदस्त पद है। तो पुरुषार्थ भी ऐसा करना चाहिए। बाबा भी समझते हैं कल्प पहले मुआफिक सबका पुरुषार्थ चलेगा। कोई राजा-रानी बनेंगे, कोई प्रजा में चले जायेंगे। तो यहाँ जब बैठकर नेष्ठा (योग) भी करवाते हो तो अपने को आत्मा समझ करके दूसरे की भी भ्रकुटी में आत्मा को देखते रहेंगे तो फिर उनकी सर्विस अच्छी होगी। जो देही-अभिमानी होकर बैठते हैं वो आत्माओं को ही देखते हैं। इसकी खूब प्रैक्टिस करो। अरे ऊंच पद पाना है तो कुछ तो मेहनत करेंगे ना। तो अभी आत्माओं के लिए यही मेहनत है। यह रूहानी नॉलेज एक ही दफा मिलती है और कभी भी नहीं मिलेगी। न कलियुग में, न सतयुग में, सिर्फ संगमयुग में सो भी ब्राह्मणों को। यह पक्का याद कर लो। जब ब्राह्मण बनेंगे तब देवता बनेंगे। ब्राह्मण नहीं बने तो फिर देवता कैसे बनेंगे? इस संगमयुग में ही यह मेहनत करते हैं। और कोई समय में यह नहीं कहेंगे कि अपने को आत्मा, दूसरे को भी आत्मा समझ उनको ज्ञान दो। बाप जो समझाते हैं उस पर विचार सागर मंथन करो। जज करो कि क्या यह ठीक है, हमारे फायदे की बात है? हमको आदत पड़ जायेगी कि बाप की जो शिक्षा है सो भाइयों को देना है, फीमेल को भी देना है तो मेल को भी देना है। देना तो आत्माओं को ही है। आत्मा ही मेल, फीमेल बनी है। बहन-भाई बनी है।

बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को ज्ञान देता हूँ। मैं बच्चों की तरफ, आत्माओं को देखता हूँ और आत्मायें भी समझती हैं कि हमारा परमात्मा जो बाप है वह ज्ञान देते हैं तो इसको कहेंगे यह रूहानी अभिमानी बने हैं। इसको ही कहा जाता स्प्रीचुअल ज्ञान की लेन-देन – आत्मा की परमात्मा के साथ। तो यह बाप शिक्षा देते हैं कि जब भी कोई विजीटर आदि आते हैं तो भी अपने को आत्मा समझ, आत्मा को बाप का परिचय देना है। आत्मा में ज्ञान है, शरीर में नहीं है। तो उनको भी आत्मा समझ करके ही ज्ञान देना है। इससे उनको भी अच्छा लगेगा। जैसेकि यह जौहर है तुम्हारे मुख में। इस ज्ञान की तलवार में जौहर भर जायेगा क्योंकि देही-अभिमानी होते हो ना। तो यह भी प्रैक्टिस करके देखो। बाबा कहते हैं जज करो – यह ठीक है? और बच्चों के लिए भी यह कोई नई बात नहीं है क्योंकि बाप समझाते ही सहज करके हैं। चक्र लगाया, अब नाटक पूरा होता है, अभी बाबा की याद में रहते हैं। तमोप्रधान से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया का मालिक बनते हैं फिर ऐसे ही सीढ़ी उतरते हैं, देखो कितना सहज बताते हैं। हर 5 हज़ार वर्ष के बाद मेरे को आना होता है। ड्रामा के प्लैन अनुसार मैं बंधायमान हूँ। आकरके बच्चों को बहुत सहज याद की यात्रा सिखलाता हूँ। बाप की याद में अन्त मती सो गति हो जायेगी, यह इस समय के लिए है। यह अन्तकाल है। अभी इस समय बाप बैठ करके युक्ति बतलाते हैं कि मामेकम् याद करो तो सद्गति हो जायेगी। बच्चे भी समझते हैं कि पढ़ाई से यह बनूँगा, फलाना बनूँगा। इसमें भी यही है कि मैं जाकरके नई दुनिया में देवी-देवता बनूँगा। कोई नई बात नहीं है, बाप तो घड़ी-घड़ी कहते हैं नथिंगन्यु। यह तो सीढ़ी उतरनी-चढ़नी है, जिन्न की कहानी है ना। उसको सीढ़ी उतरने और चढ़ने का काम दिया गया। यह नाटक ही है चढ़ना और उतरना। याद की यात्रा से बहुत मजबूत हो जायेंगे इसलिए भिन्न-भिन्न प्रकार से बाप बच्चों को बैठ सिखलाते हैं कि बच्चे अभी देही-अभिमानी बनो। अभी सबको वापिस जाना है। तुम आत्मा पूरे 84 जन्म लेकर तमोप्रधान बन गई हो। भारतवासी ही सतो-रजो-तमो बनते हैं। दूसरी कोई नेशनल्टी को नहीं कहेंगे कि पूरे 84 जन्म लिए हैं। बाप ने आकरके बताया है नाटक में हर एक का पार्ट अपना-अपना होता है। आत्मा कितनी छोटी है। साइंसदानों को यह समझ में ही नहीं आयेगा कि इतनी छोटी आत्मा में यह अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। यह है सबसे वण्डरफुल बात। यह छोटी सी आत्मा और पार्ट कितना बजाती है! वह भी अविनाशी! यह ड्रामा भी अविनाशी है और बना-बनाया है। ऐसे नहीं कोई कहेंगे कि कब बना? नहीं। यह कुदरत है। यह ज्ञान बड़ा वण्डरफुल है, कभी कोई यह ज्ञान बता ही नहीं सकते हैं। ऐसे कोई की ताकत नहीं है जो यह ज्ञान बताये।

तो अभी बच्चों को बाप दिन-प्रतिदिन समझाते रहते हैं। अभी प्रैक्टिस करो कि हम अपने भाई आत्मा को ज्ञान देते हैं, आपसमान बनाने के लिए। बाप से वर्सा लेने के लिए क्योंकि सब आत्माओं का हक है। बाबा आते हैं सभी आत्माओं को अपना-अपना शान्ति वा सुख का वर्सा देने। हम जब राजधानी में होंगे तो बाकी सब शान्तिधाम में होंगे। पीछे जय जयकार होगी, यहाँ सुख ही सुख होगा इसलिए बाप कहते हैं पावन बनना है। जितना-जितना तुम पवित्र बनते हो उतना कशिश होती है। जब तुम बिल्कुल पवित्र हो जाते हो तो गद्दी नशीन हो जाते हो। तो प्रैक्टिस यह करो। ऐसे मत समझना कि बस यह सुना और कान से निकाला। नहीं, इस प्रैक्टिस बिगर तुम चल नहीं सकेंगे। अपने को आत्मा समझो, वह भी आत्मा भाई-भाई को बैठकर समझाओ। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं इसको कहा जाता है रूहानी स्प्रीचुअल नॉलेज। प्रीचुल फादर देने वाला है। जब चिल्ड्रेन पूरा स्प्रीचुअल बन जाते हैं, एकदम प्योर बन जाते हैं तो जाकर सतयुगी तख्त के मालिक बनते हैं। जो प्योर नहीं बनेंगे वो माला में भी नहीं आयेंगे। माला का भी कोई अर्थ तो होगा ना। माला का राज़ दूसरा कोई भी नहीं जानते हैं। माला को क्यों सिमरते हैं? क्योंकि बाप की बहुत ही मदद की है, तो क्यों नहीं सिमरे जायेंगे। तुम सिमरे भी जाते हो, तुम्हारी पूजा भी होती है और तुम्हारे शरीर को भी पूजा जाता है। और मेरी तो सिर्फ आत्मा को पूजा जाता है। देखो तुम तो डबल पूजे जाते हो, मेरे से भी जास्ती। तुम जब देवता बनते हो तो देवताओं की भी पूजा करते हैं इसलिए पूजा में भी तुम तीखे, यादगार में भी तुम तीखे और बादशाही में भी तुम तीखे। देखो, तुमको कितना ऊंचा बनाता हूँ। तो जैसे प्यारे बच्चे होते हैं, बहुत लव होता है तो बच्चों को कुल्हे पर, माथे पर भी रखते हैं। बाबा एकदम सिर पर रख देते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गायन और पूजन योग्य बनने के लिए स्प्रीचुअल बनना है, आत्मा को प्योर बनाना है। आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है।

2) मनमनाभव के अभ्यास द्वारा अपार खुशी में रहना है। स्वयं को आत्मा समझकर आत्मा से बात करनी है, आंखों को सिविल बनाना है।

वरदान:- सदाकाल के अटेन्शन द्वारा विजय माला में पिरोने वाले बहुत समय के विजयी भव
बहुत समय के विजयी, विजय माला के मणके बनते हैं। विजयी बनने के लिए सदा बाप को सामने रखो – जो बाप ने किया वही हमें करना है। हर कदम पर जो बाप का संकल्प वही बच्चों का संकल्प, जो बाप के बोल वही बच्चों के बोल – तब विजयी बनेंगे। यह अटेन्शन सदाकाल का चाहिए तब सदाकाल का राज्य-भाग्य प्राप्त होगा क्योंकि जैसा पुरूषार्थ वैसी प्रालब्ध है। सदा का पुरूषार्थ है तो सदा का राज्य-भाग्य है।
स्लोगन:- सेवा में सदा जी हाजिर करना – यही प्यार का सच्चा सबूत है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 December 2019

28-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह पढ़ाई जो बाप पढ़ाते हैं, इसमें अथाह कमाई है, इसलिए पढ़ाई अच्छी रीति पढ़ते रहो, लिंक कभी न टूटे”
प्रश्नः- जो विनाशकाले विपरीत बुद्धि हैं, उन्हें तुम्हारी किस बात पर हँसी आती है?
उत्तर:- तुम जब कहते हो अभी विनाश काल नज़दीक है, तो उन्हें हँसी आती है। तुम जानते हो बाप यहाँ बैठे तो नहीं रहेंगे, बाप की ड्युटी है पावन बनाना। जब पावन बन जायेंगे तो यह पुरानी दुनिया विनाश होगी, नई आयेगी। यह लड़ाई है ही विनाश के लिए। तुम देवता बनते हो तो इस कलियुगी छी-छी सृष्टि पर आ नहीं सकते।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। बच्चे समझते हैं हम बहुत बेसमझ बन गये थे। माया रावण ने बेसमझ बना दिया था। यह भी बच्चे समझते हैं कि बाप को जरूर आना ही है, जबकि नई सृष्टि स्थापन होनी है। त्रिमूर्ति का चित्र भी है – ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णु द्वारा पालना, शंकर द्वारा विनाश क्योंकि करनकरावनहार तो बाप है ना। एक ही है जो करता है और कराता है। पहले किसका नाम आयेगा? जो करता है फिर जिस द्वारा कराते हैं। करनकरावनहार कहा जाता है ना। ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना कराते हैं। यह भी बच्चे जानते हैं हमारी जो नई दुनिया है, जो हम स्थापन कर रहे हैं, इसका नाम ही है देवी-देवताओं की दुनिया। सतयुग में ही देवी-देवता होते हैं। किसी और को देवी-देवता नहीं कहा जाता। वहाँ मनुष्य होते नहीं। है ही एक देवी-देवता धर्म, दूसरा कोई धर्म ही नहीं। अभी तुम बच्चे स्मृति में आये हो कि बरोबर हम देवी-देवता थे, निशानियाँ भी हैं। इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन आदि सबकी अपनी-अपनी निशानी है। हमारा जब राज्य था तो और कोई नहीं था। अभी फिर और सभी धर्म हैं, हमारा देवता धर्म है नहीं। गीता में अक्षर बड़े अच्छे-अच्छे हैं परन्तु कोई समझ नहीं सकते। बाप कहते हैं विनाश काले विप्रीत बुद्धि और विनाश काले प्रीत बुद्धि। विनाश तो इस समय ही होना है। बाप आते भी हैं संगमयुग पर, जबकि चेंज होती है। बाप तुम बच्चों को बदले में सब कुछ नया देते हैं। वह सोनार भी है, धोबी भी है, बड़ा व्यापारी भी है। बिरला ही कोई बाप से व्यापार करे। इस व्यापार में तो अथाह फायदा है। पढ़ाई में फायदा बहुत होता है। महिमा भी की जाती है कि पढ़ाई कमाई है, वह भी जन्म-जन्मान्तर के लिए कमाई है। तो ऐसी पढ़ाई अच्छी रीति पढ़नी चाहिए ना और पढ़ाता भी बहुत सहज हूँ। सिर्फ एक हफ्ता समझकर फिर भल कहाँ भी चले जाओ, तुम्हारे पास पढ़ाई आती रहेगी अर्थात् मुरली मिलती रहेगी तो फिर कभी लिंक नहीं टूटेगी। यह है आत्माओं की परमात्मा के साथ लिंक। गीता में भी यह अक्षर हैं विनाश काले विप्रीत बुद्धि विनशन्ती, प्रीत बुद्धि विजयन्ती। तुम जानते हो इस समय मनुष्य एक-दो को काटते-मारते रहते हैं। इन जैसा क्रोध वा विकार और कोई में होता नहीं। यह भी गायन है कि द्रोपदी ने पुकारा। बाप ने समझाया है तुम सब द्रोपदियाँ हो। भगवानुवाच, बाप कहते हैं-बच्चे, अब विकार में नहीं जाओ। मैं तुमको स्वर्ग में ले चलता हूँ, तुम सिर्फ मुझ बाप को याद करो। अब विनाशकाल है ना, किसकी भी सुनते नहीं, लड़ते ही रहते हैं। कितना उनको कहते हैं शान्त रहो, परन्तु शान्त रहते नहीं। अपने बच्चों आदि से बिछुड़कर लड़ाई के मैदान में जाते हैं। कितने मनुष्य मरते ही रहते हैं। मनुष्य की कोई वैल्यु नहीं। अगर वैल्यु है, महिमा है तो इन देवी-देवताओं की। अभी तुम यह बनने का पुरूषार्थ कर रहे हो। तुम्हारी महिमा वास्तव में इन देवताओं से भी जास्ती है। तुमको अभी बाप पढ़ा रहे हैं। कितनी ऊंच पढ़ाई है। पढ़ने वाले बहुत जन्मों के अन्त में बिल्कुल ही तमोप्रधान हैं। मैं तो सदैव सतोप्रधान ही हूँ।

बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों का ओबीडियन्ट सर्वेन्ट बनकर आया हूँ। विचार करो हम कितने छी-छी बन गये हैं। बाप ही हमको वाह-वाह बनाते हैं। भगवान बैठ मनुष्यों को पढ़ाकर कितना ऊंच बनाते हैं। बाप खुद कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में तुम सबको तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाने आया हूँ। अभी तुमको पढ़ा रहा हूँ। बाप कहते हैं मैंने तुमको स्वर्गवासी बनाया फिर तुम नर्कवासी कैसे बने, किसने बनाया? गायन भी है विनाश काले विप्रीत बुद्धि विनशन्ती। प्रीत बुद्धि विजयन्ती। फिर जितना-जितना प्रीत बुद्धि रहेंगे अर्थात् बहुत याद करेंगे, उतना तुम्हारा ही फायदा है। लड़ाई का मैदान है ना। कोई भी यह नहीं जानते हैं कि गीता में कौन-सी युद्ध बताई है। उन्होंने तो फिर कौरवों और पाण्डवों की युद्ध दिखाई है। कौरव सम्प्रदाय, पाण्डव सम्प्रदाय भी हैं परन्तु युद्ध तो कोई है नहीं। पाण्डव उनको कहा जाता है जो बाप को जानते हैं। बाप से प्रीत बुद्धि हैं। कौरव उनको कहा जाता जो बाप से विप्रीत बुद्धि हैं। अक्षर तो बहुत अच्छे-अच्छे समझने लायक हैं।

अभी है संगमयुग। तुम बच्चे जानते हो नई दुनिया की स्थापना हो रही है। बुद्धि से काम लेना है। अभी दुनिया कितनी बड़ी है। सतयुग में कितने थोड़े मनुष्य होंगे। छोटा झाड़ होगा ना। वह झाड़ फिर बड़ा होता है। मनुष्य सृष्टि रूपी यह उल्टा झाड़ कैसे है, यह भी कोई समझते नहीं हैं। इनको कल्प वृक्ष कहा जाता है। वृक्ष का नॉलेज भी चाहिए ना? और वृक्षों का नॉलेज तो बहुत-बहुत इज़ी है, झट बता देंगे। इस वृक्ष का नॉलेज भी ऐसा इज़ी है परन्तु यह है ह्युमन वृक्ष। मनुष्यों को अपने वृक्ष का पता ही नहीं पड़ता है। कहते भी हैं गॉड इज़ क्रियेटर, तो जरूर चैतन्य है ना। बाप सत है, चैतन्य है, ज्ञान का सागर है। उनमें कौन-सा ज्ञान है, यह भी कोई नहीं समझते हैं। बाप ही बीज रूप, चैतन्य है। उनसे ही सारी रचना होती है। तो बाप बैठ समझाते हैं, मनुष्यों को अपने झाड़ का पता नहीं है, और झाड़ों को तो अच्छी रीति जानते हैं। झाड़ का बीज अगर चैतन्य होता तो बतलाता ना परन्तु वह तो है जड़। तो अब तुम बच्चे ही रचता और रचना के राज़ को जानते हो। यह सत है, चैतन्य है, ज्ञान का सागर है। चैतन्य में तो बातचीत कर सकते हैं ना। मनुष्य का तन सबसे ऊंच अमूल्य गाया गया है। इनका मूल्य कथन नहीं कर सकते। बाप आकर आत्माओं को समझाते हैं।

तुम रूप भी हो, बसन्त भी हो। बाप है ज्ञान का सागर। उनसे तुमको रत्न मिलते हैं। यह ज्ञान रत्न हैं, जिन रत्नों से वह रत्न भी तुमको ढेर मिल जाते हैं। लक्ष्मी-नारायण के पास देखो कितने रत्न हैं। हीरे-जवाहरों के महलों में रहते हैं। नाम ही है स्वर्ग, जिसके तुम मालिक बनने वाले हो। कोई गरीब को अचानक बड़ी लॉटरी मिलती है तो पागल हो जाते हैं ना। बाप भी कहते हैं तुमको विश्व की बादशाही मिलती है तो माया कितना आपोजीशन करती है। तुमको आगे चल पता पड़ेगा कि माया कितने अच्छे-अच्छे बच्चों को भी हप कर लेती है। एकदम खा लेती है। तुमने सर्प को देखा है-मेढक को कैसे पकड़ता है, जैसे गज को ग्राह हप करते हैं। सर्प मेढक को एकदम सारे का सारा हप कर लेता है। माया भी ऐसी है, बच्चों को जीते जी पकड़कर एकदम खत्म कर देती है जो फिर कभी बाप का नाम भी नहीं लेते हैं। योगबल की ताकत तुम्हारे में बहुत कम है। सारा मदार योगबल पर है। जैसे सर्प मेढक को हप करता है, तुम बच्चे भी सारी बादशाही को हप करते हो। सारे विश्व की बादशाही तुम सेकण्ड में ले लेंगे। बाप कितना सहज युक्ति बताते हैं। कोई हथियार आदि नहीं। बाप ज्ञान-योग के अस्त्र-शस्त्र देते हैं। उन्होंने फिर स्थूल हथियार आदि दे दिये हैं।

तुम बच्चे इस समय कहते हो-हम क्या से क्या बन गये थे! जो चाहे सो कहो, हम ऐसे थे जरूर। भल थे तो मनुष्य ही परन्तु गुण और अवगुण तो होते हैं ना। देवताओं में दैवीगुण हैं इसलिए उन्हों की महिमा गाते हैं-आप सर्वगुण सम्पन्न….. हम निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। इस समय सारी दुनिया ही निर्गुण है अर्थात् एक भी देवताई गुण नहीं है। बाप जो गुण सिखलाने वाला है, उनको ही नहीं जानते इसलिए कहा जाता विनाश काले विप्रीत बुद्धि। अब विनाश तो होना ही है संगमयुग पर। जबकि पुरानी दुनिया विनाश होती है और नई दुनिया स्थापन होती है। इनको कहा जाता है विनाश काल। यह है अन्तिम विनाश फिर आधाकल्प कोई लड़ाई आदि होती ही नहीं। मनुष्यों को कुछ भी पता नहीं है। विनाश काले विप्रीत बुद्धि हैं तो जरूर पुरानी दुनिया का विनाश होगा ना। इस पुरानी दुनिया में कितनी आपदायें हैं। मरते ही रहते हैं। बाप इस समय की हालत बतलाते हैं। फ़र्क तो बहुत है ना। आज भारत का यह हाल है, कल भारत क्या होगा? आज यह है, कल तुम कहाँ होंगे? तुम जानते हो पहले नई दुनिया कितनी छोटी थी। वहाँ तो महलों में कितने हीरे-जवाहर आदि होते हैं। भक्ति मार्ग में भी तुम्हारा मन्दिर कोई कम थोड़ेही होता है। सिर्फ कोई एक सोमनाथ का मन्दिर थोड़ेही होगा। एक कोई बनायेगा तो उनको देख और भी बनायेंगे। एक सोमनाथ मन्दिर से ही कितना लूटा है। फिर बैठ अपना यादगार बनाया है। तो दीवारों में पत्थर आदि लगाते हैं। इन पत्थरों की क्या वैल्यु होगी? इतने छोटे-से हीरे का भी कितना दाम है। बाबा जौहरी था, एक रत्ती का हीरा होता था, 90 रूपया रत्ती। अभी तो उसकी कीमत हज़ारों रूपया है। मिलते भी नहीं। बहुत वैल्यु बढ़ गई है। इस समय विलायत आदि तरफ धन बहुत है, परन्तु सतयुग के आगे यह कुछ भी नहीं है।

अब बाप कहते हैं विनाश काले विप्रीत बुद्धि हैं। तुम कहते हो विनाश समीप है तो मनुष्य हँसते हैं। बाप कहते हैं मैं कितना समय बैठा रहूँगा, मुझे कोई यहाँ मजा आता है क्या? मैं तो न सुखी, न दु:खी होता हूँ। मेरे ऊपर ड्यूटी है पावन बनाने की। तुम यह थे, अब यह बन गये हो, फिर तुमको ऐसा ऊंच बनाता हूँ। तुम जानते हो हम फिर वह बनने वाले हैं। अब तुमको यह समझ आई है, हम इस दैवी घराने के भाती थे। राजाई थी। फिर ऐसे अपनी राजाई गँवाई। फिर और-और आने लगे। अब यह चक्र पूरा होता है। अभी तुम समझते हो लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं है। यह लड़ाई है ही विनाश की, उस तरफ तो बहुत आराम से मरेंगे। कोई तकलीफ नहीं होगी। हॉस्पिटल्स आदि ही नहीं होंगे। कौन बैठ सेवा करेंगे और रोयेंगे। वहाँ तो यह रस्म ही नहीं। उन्हों की मौत सहज होती है। यहाँ तो दु:खी होकर मरते हैं क्योंकि तुमने सुख बहुत उठाया है तो दु:ख भी तुमको देखना है। खून की नदी यहाँ ही बहेगी। वह समझते हैं यह लड़ाई फिर शान्त हो जायेगी परन्तु शान्त तो होनी नहीं है। मिरूआ मौत मलूका शिकार। तुम देवता बनते हो, फिर कलियुगी छी-छी सृष्टि पर तो तुम आ नहीं सकते। गीता में भी है भगवानुवाच, विनाश भी देखो, स्थापना देखो। साक्षात्कार हुआ ना! यह साक्षात्कार सब अन्त में होंगे – फलाने-फलाने यह बनते हैं फिर उस समय रोयेंगे, बहुत पछतायेंगे, सजा खायेंगे, नसीब कूटेंगे। लेकिन कर क्या सकेंगे? यह तो 21 जन्मों की लॉटरी है। स्मृति तो आती है ना। साक्षात्कार बिगर किसको सज़ा नहीं मिल सकती है। ट्रिब्युनल बैठती है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं में ज्ञान रत्न धारण कर रूप-बसन्त बनना है। ज्ञान रत्नों से विश्व के बादशाही की लॉटरी लेनी है।

2) इस विनाश काल में बाप से प्रीत रख एक की ही याद में रहना है। ऐसा कोई कर्म नहीं करना है जो अन्त समय में पछताना पड़े या नसीब कूटना पड़े।

वरदान:- अलबेलेपन वा अटेन्शन के अभिमान को छोड़ बाप की मदद के पात्र बनने वाले सहज पुरुषार्थी भव
कई बच्चे हिम्मत रखने के बजाए अलबेलेपन के कारण अभिमान में आ जाते हैं कि हम तो सदा पात्र हैं ही। बाप हमें मदद नहीं करेंगे तो किसको करेंगे! इस अभिमान के कारण हिम्मत की विधि को भूल जाते हैं। कईयों में फिर स्वयं पर अटेन्शन देने का भी अभिमान रहता जो मदद से वंचित कर देता है। समझते हैं हमने तो बहुत योग लगा लिया, ज्ञानी-योगी तू आत्मा बन गये, सेवा की राजधानी बन गई..इस प्रकार के अभिमान को छोड़ हिम्मत के आधार पर मदद के पात्र बनो तो सहज पुरुषार्थी बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो वेस्ट और निगेटिव संकल्प चलते हैं उन्हें परिवर्तन कर विश्व कल्याण के कार्य में लगाओ।

TODAY MURLI 28 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 December 2019

28/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is an unlimited income to be earned by studying the study that the Father teaches you. Therefore, continue to study well and never allow the link of your study to break.
Question: Which of your aspects is laughed at by those who have non-loving intellects at the time of destruction?
Answer: When you tell them that the time of destruction is very close, they laugh at you. You know that the Father will not just continue to sit here. It is the Father’s duty to make you pure. When you have become pure, this old world will be destroyed and the new one will come. The war ahead is for destruction. When you are deities, you cannot enter the dirty iron-aged world.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You children understand that you became totally senseless and it was Maya, Ravan, that made you senseless. You children also understand that, because the new world has to be established, the Father definitely has to come here. There is the picture of the Trimurti (the three deities) on which it is written, “Creation through Brahma, sustenance through Vishnu and destruction through Shankar”, because the Father is Karankaravanhar. He is the only One who acts and also inspires others to act. Therefore, whose name should be put first? The name of the One who acts should come before the name of the one through whom He acts. This is why He is called Karankaravanhar. He establishes the new world through Brahma. You children also know that our new world, the world that is now being established, is called the deity world. Only in the golden age are there deities. No other beings can be called deities. Ordinary human beings do not exist there. Only the deity religion, no other religion, exists there. It is now in your consciousness that you really were deities. There are also signs of that. Those of Islam as well as the Buddhists and the Christians etc. all have their own signs. At the time we ruled our kingdom, there were no other religions, whereas, at present, there are all the other religions but our deity religion doesn’t exist. There are many good words in the Gita, but people do not understand the real meaning of them. The Father says: At the time of destruction, there are those whose intellects have no love and those who have loving intellects. Destruction has to take place at this time. The Father comes at the confluence age when change takes place. He gives you children everything new in return. He is the Goldsmith, the Laundryman and also the Businessman. Very few children do this business with the Father. There is a lot of profit to be made in this business. There is also a lot of profit in studying. There is a saying: “Knowledge is the source of income”. This is an income that lasts for birth after birth. Therefore, you should study this knowledge very well. The knowledge I teach you is very easy. You simply have to understand it for seven days and you may then go wherever you like. This study will continue to be sent to you; you will continue to receive the murli so that your link of studying is never broken. This link is of souls with the Supreme Soul. There is the saying in the Gita, “Those whose intellects have no love at the time of destruction are destroyed whereas those whose intellects do have love are victorious.” You know that all human beings continue to bite and hurt one another at the present time. No one has as much vice or anger as they have now. It has been remembered that Draupadi called out to God. The Father has explained that all of you are Draupadi. These are the versions of God. The Father says: Children, do not now indulge in vice. I am taking you to heaven. You simply have to remember Me, your Father. It is now the time of destruction. Therefore, no one listens to anyone but everyone continues to fight with one another. No matter how much you tell them to remain peaceful, they won’t. They leave their children behind and go to war. So many continue to die. Human beings have no value. Any value, any praise, belongs to the deities. You are now making effort to become like them. In fact, your praise is even greater than that of the deities. The Father is now teaching you such an elevated study. Those who are studying are at the end of their many births and have become totally tamopradhan. However, I am always satopradhan. The Father says: I have come as the obedient Servantof you children. Just think about this. You have become so dirty and ugly! Only the Father comes and makes you clean and beautiful. God sits here and teaches you human beings and makes you so elevated. The Father Himself says: I come at the end of your many births in order to change you all from tamopradhan to satopradhan. I am now teaching you. The Father says: I made you into residents of heaven. How did you become residents of hell? Who made you into those? There is a saying that anyone with a non-loving intellect is destroyed at the time of destruction and anyone with a loving intellect is victorious at the time of destruction. To the extent that your intellects have love, that is, to the extent that you remain in deep remembrance, so you will benefit. This is that battlefield. No one knows which battle has been mentioned in the Gita and so they speak of a battle between the Kauravas and the Pandavas. There is the Kaurava community and there is the Pandava community, but there is no battle between them. Pandavas are those who know the Father and whose intellects have love for the Father. Kauravas are those whose intellects have no love for the Father. These words are very good and worth understanding. It is now the confluence age. You children know that the new world is now being established. You have to use your intellects to understand everything. The world has now grown so much. There will be very few human beings in the golden age. First the tree is small and then that tree grows large. No one understands that this is the inverted tree of the human world. It is also called the kalpa tree. You do need to have the knowledge of this tree. Knowledge of every other tree is very easy to understand and you can quickly speak about it. The knowledge of this tree is also easy. However, this tree is the human tree. Human beings have no knowledge of their own tree. They say that God is the Creator. Therefore, He must definitely be the Living Being. The Father is the Truth, the Living Being and the Ocean of Knowledge. No one understands which knowledge it is that He has. The Father, the Living Being, is the Seed. All of creation is created by Him. The Father sits here and explains that human beings do not know about their own tree, but they know very well about other trees. If the seeds of those trees were living, they would tell you about themselves, but they are non-living trees. You children now know the secrets of the Creator and creation. He is the Truth, the Living Being, the Ocean of Knowledge. Because He is the Living Being, He is able to talk to you. It is said that the human body is so valuable that it’s impossible to put its value into words. The Father sits here and explains these things to you souls. You are rup basant (an embodiment of yoga who showers jewels of knowledge). The Father is the Ocean of Knowledge. You receive these jewels from Him. These jewels are the jewels of knowledge and it is by taking these jewels that you receive plenty of the other jewels. Just look how many jewels Lakshmi and Narayan have! They reside in palaces studded with diamonds and jewels. The very name is heaven and you become the masters of it. When a poor person suddenly wins a big lottery, he goes crazy. The Father says: You receive the sovereignty of the world, and so Maya causes you so much opposition. As you make progress, you will see how Maya swallows even very good children; she swallows them whole. You must have seen how snakes catch hold of frogs. Just as the alligator completely eats up the elephant, similarly, the snake swallows up the whole frog. Maya is also the same – she catches hold of the children alive and completely finishes them off so that they never even mention the name of the Father again. You have very little power of yoga. Everything depends on the power of yogaJust as a snake swallows a frog, so you children swallow the whole sovereignty. You can claim the sovereignty of the whole world in a second. The Father gives you so many easy ways to follow. You do not have any weapons etc. The Father adorns you with the weapons of knowledge and yoga, which is why the deities are portrayed with physical weapons. You children now say: Just look what we have become from what we were! Say what you want, we know that that is what we were like. Although you are human beings, you do have some virtues as well as defects. Only the deities have divine virtues. This is why people sing the praise of their idols in front of them: You are full of all virtues and completely viceless etc., whereas we are completely virtueless; we have no virtue at all. At present, the whole world population is without virtue. This means that there is no one with a single divine virtue. They do not know the Father, the One who teaches divine virtues, and so they are called those whose intellects have no love at the time of destruction. Destruction does have to take place at the confluence age when the new world is created and the old world destroyed. This is called the time of destruction. This is the final destruction. There will then be no wars etc. for half a cycle. Those people do not know anything. Since there are those whose intellects have no love at the time of destruction, there definitely will be destruction of the old world. So many calamities are happening in this old world; people just continue to die. The Father tells you of the state of the world at this time. There is a great deal of difference between the state of Bharat today and the state of Bharat tomorrow. Today, you can see what it’s like, but where will you be tomorrow? You children know that the new world is very small at first. The palaces there are studded with many diamonds and jewels etc. Your temples on the path of devotion are no less. There will not be just the one temple to Somnath. Someone would have built a sample and then, when others saw it, they would have built many more. So much was looted from the Somnath Temple. Then, they sat and created their own memorials. They studded the walls with gems etc. What value would those gems have had? Even a small diamond now costs so much! When Baba was a jeweller, a diamond of even one rati (11 ratis to one gram) would cost 90 rupees. That would now cost thousands of rupees. It is impossible now even to find one, their value has increased so much! The foreign lands have so much wealth at this time. Compared to the golden age, all the present wealth of the foreign lands is nothing. The Father says: All of them now have non-loving intellects at this time of destruction. When you tell people that the time of destruction is close, they laugh at you. The Father says: For how much longer would I remain sitting here? I have no pleasure in sitting here. I neither experience happiness nor do I experience sorrow. My duty is simply to purify you. That is what you were like; this is what you have now become! You now have to become as elevated as they are. You do know that you are going to become like them. You have now understood that you were members of the deity clan, that you had your kingdom and that you then lost your kingdom and other kingdoms came. The cycle is now coming to an end. You now understand that this cycle is not a matter of hundreds of thousands of years. This war is to be for destruction. When you are there, you will die in great comfort; there will be no difficulty whatsoever. There will not be any hospitals etc. Who would work there and serve others or even cry? This custom doesn’t exist there. There, death takes place very easily. Here, people experience great sorrow when they die. Because you have seen plenty of happiness, you also have to see plenty of sorrow. It is here that rivers of blood will flow. They think that this war will quieten down, but it is not going to quieten down. There is a saying, “Joy for the hunter and death for the prey.” When you are deities, you cannot enter the dirty, iron-aged world. The Gita says: God speaks: You have to see destruction as well as establishment. Some of you have had a vision of this, have you not? At the end, you will have visions of what so-and-so will become. Then, at that moment, they will cry and repent a great deal and experience a lot of punishment. They will cry about their fortune (repent). What would you be able to do at that time? This is a lottery for 21 births. You do remember all of this, do you not? No one can experience punishment without first having visions of what he did. There will be the Tribunal. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe the jewels of knowledge and become rup and basant. Use the jewels of knowledge you are given to win the lottery of sovereignty over the world.
  2. At this time of destruction, you must have love for the Father and stay in the remembrance of One. You must not act in any way for which you would have to repent at the end and cry about your fortune.
Blessing: May you become an easy effort-maker by renouncing carelessness and ego about paying attention and become worthy of receiving the Father’s help.
Some children, instead of having courage, develop ego and because of their carelessness, they think: I am always worthy. If the Father doesn’t help me, who else would He help? Because of this ego, they forget the method of having courage. Some develop the ego of paying attention to themselves and this deprives them of receiving help. They believe that they have had a lot of yoga, that they have become gyani and yogi souls, that they have created their kingdom of service. Therefore, let go of this type of ego and, on the basis of your courage, become worthy of receiving help and you will become an easy effort-maker.
Slogan: Transform any wasteful and negative thoughts you have and use them in the task of benefiting the world.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 28 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 December 2018 :- Click Here

28/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, renounce your attachment to the old world and have zeal and enthusiasm for service. Never become tired of service.
Question: What are the signs of children who have intoxication of knowledge?
Answer: They have a lot of interest in doing serv i ce. They remain constantly engaged in service through their minds and words. They give everyone the Father’s introduction and give the proof of it. While establishing the kingdom, if they have to tolerate anything, they do so. They are complete helpers of the Father and do the service of making Bharat into heaven.
Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for all!

Om shanti. You children now know the mother, numberwise, according to the effort you make. You know the mother and so you would also surely know the father. This mother and father are the bestowers of one hundred-fold fortune and bestowers of fortune. The ones with one hundred-fold fortune are those who make effort and create their full fortune. They claim their inheritance in the sun and moon dynasties, and that, too, is numberwise. There are many who are like the natives; they will go and take birth among the very ordinary subjects; they cannot claim a status. The Father definitely tells you: Children, don’t have attachment to this old world. The poor world is crying out. You children have to have the interest and enthusiasm to do service. Although some do have enthusiasm to do service, they don’t have the art of doing service. You receive many directions. The writing has to be very refined. The pictures of the Trimurti and the tree should be 30″ x 40″. These are very useful things. However, some children have little value for them. Although there is a lot of respect for Sanjay, that praise is of the end. It is said, “Ask the gopes and gopis about supersensuous joy”. So that praise too is of the final stage. No one has that happiness now. They now continue to cry and fall; Maya slaps them. Although some come every day, they don’t have that intoxication. You receive many chances to do service. People now continue to say that there should be one religion. There used to be one Government in Bharat. It was called heaven, but no one knows that. It was 5000 years ago when there was the one G overnment. You can even say that until 2500 years ago, there was one G overnment because even in the kingdom of Rama there was one G overnment. For 2500 years, in the golden and silver ages, there was the one G overnment. There weren’t two for there to be any conflict. Here, they continue to say that the Chinese and Hindus are brothers, and then look what they continue to do! They continue to shoot each other. The world is such. Even husband and wife fight between themselves. A wife doesn’t take long to slap her husband. There is a lot of fighting in every home. The people of Bharat have forgotten that it is only a matter of 2,500 years ago when there was one g overnment. Now there are many g overnments and many religions and so there would definitely be fighting. You tell them that there was one g overnment in Bharat. That was called the Government of gods and goddesses. The path of devotion came later. There is no devotion in the golden and silver ages. People show their arrogance a great deal, but the knowledge they have isn’t worth a shell. They have a lot of other knowledge; knowledge for becoming a doctor, knowledge for becoming a barrister The Father says: Those who call themselves Doctors of Philosophy don’t have this knowledge at all. They don’t even understand what is called philosophy. Therefore, you children should have an interest in doing serv i ce and become helpers in establishment. You have to make something good and give that. As is the status of a person, so the invitation given to him. For example, there are many officers in the Government. There is the Education Minister and the Chief Minister. There should be an office here too. You should put whatever directions are given into practice. They have now written the Gorakhpuri Gita and they are all ready to distribute it free of charge. All the institutions have many f unds. When the Maharaja of Kashmir died, the Arya Samaj received all his property because he belonged to the Arya Samaj. Even sannyasis have a lot of money. You are using all the money you have for this service so that Bharat can become heaven. You are helping to make it into heaven. There is the difference of day and night. Day by day, those people continue to become residents of hell whereas the Father is now making you into residents of heaven. All are poor. It isn’t that we continue to accumulate money. You say: Baba, use these few pennies I have for the yagya, for service. At this time, all continue to fight and quarrel among themselves. There cannot be one government. So you should tell the Government that there definitely was the one sun and moon dynasty Government. You also desire that and it will definitely happen. The Father is establishing heaven. He is Heavenly God the Father. We are establishing the one deity Government. The devilish Government doesn’t exist there. All of them will be destroyed. You have very good knowledge and a lot can be achieved with that. Delhi is the h ead office. They can do a lot of service. The children there are very good too. There is Jagdish, Sanjay. However, all are Sanjay; there isn’t just one Sanjay. Each one of you is Sanjay. Your duty is to show everyone the path. The Father continues to explain to you very well, but some children are trapped in their own businesses and in looking after their children etc. While living at home with their families, they don’t become helpers of the Father. Here, you have to demonstrate this by doing service. How is the on e G overnment being established? This cycle and drama are showing you the time. Just as the picture of Ravan has been created, in the same way, make a big picture of the cycle and write on it: The hand has now reached the time. There now has to be the one Government once again. Baba gives you directions. Shiv Baba will not go into the streets and stumble around. If this one goes, it means that Shiv Baba has to stumble around. You should have regard for Baba. It is the children’s duty to do service. You should write: The one G overnment that existed in Bharat is once again being established. This sacrificial fire was created many years ago. All the rubbish of this world is to become merged in it. It is very easy, but it takes time to explain to everyone. There are no kings now. No one will believe just one person. Previously, when a new invention was created, they would get the word spread by the king because the king had that power. One becomes a king either through Raja Yoga or by donating a lot of wealth. Here, it is rule of the people. There isn’t the one Government (party). There is even a party of poor soldiers; they don’t take long to dishonour anyone. Many such activities continue to take place. Give them a little money and they will even kill big ministers. So, you children have to take the chance of doing service and not go to sleep. Just as people go to hear stories at religious gatherings and then go back home and become the same as they were and don’t have any enthusiasm, similarly, children too lack that enthusiasm. Government gardens would have many very good, first-class flowers. Their department is separate. When anyone goes there, they are first of all given first  class flowers. This too is the Father’s flower garden. If someone were to come here, what would you show them while taking them around? You would tell them the names. These are very good flowers. Tanger and uck flowers are also sitting here. They don’t sparkle; they don’t do any service. Every day, you definitely have to give someone the Father’s introduction. You are incognito and you have so many obstacles. You haven’t become worthy of doing service. Baba repeatedly tells you to go to the temples, to go to the cremation grounds. You should go and give lectures. You children have to give the proof of service. A few will emerge out of hundreds. You should also explain this to your friends and relatives. When people are afraid to come here, you should go to their homes and explain. They will become very happy when they receive the Father’s introduction. Baba says: There shouldn’t be any tiredness while doing service. Out of a hundred, one will emerge. You definitely have to tolerate something while establishing a kingdom. Until you have taken insults, you cannot become Kalangidhar (one who is worshipped because of having taken insults). Your intoxication of knowledge is high. However, where is the result? OK, you gave knowledge to 10 or 20, so if one or two awaken from that, you should tell Baba. Only when you have an interest in doing serv i ce will Baba give you a prize. Give the Father’s introduction: Who is your Father? Only then can the intoxication of the inheritance rise. You can give a lecture: No one in the whole world, apart from the Brahma Kumars and Kumaris, knows the history and geography of the world. Issue this challenge. Baba has mentioned the cremation grounds and so you should go there and do service. You do your business etc. for six to eight hours. So, where does the rest of your time go? You won’t be able to claim a high status just like that. Baba would say: You have come to marry Lakshmi or Narayan, but first of all look at your own face. What Baba explains is right. Just take up the one topic: Come and understand how the history and geographyof the world repeat. Print this in the newspapers. Try and hire a hall. You don’t even receive three square feet of land. They don’t recognise you. You are foreigners from the supreme abode. Souls have all come from the supreme abode. Therefore, all of you are foreigners. However, no one understands your language. Here, in the corporeal form, you are not told to touch anyone’s feet or to do things like that, such as kissing the feet of sages and great souls and then washing the feet and drinking that water! That is called worship of the elements. Bodies are made of the five elements. Look what the condition of Bharat has become! Therefore, the Father says: Give the proof of service. Give everyone happiness. Here, you should have just the one concern: to connect your intellects in yoga to the Father.

Song: Mother, you are the bestower of fortune for all.

Mother Jagadamba is the bestower of fortune. It is the mother who attains her status. She too says: Remember Shiv Baba. I imbibe knowledge from Him and then also inspire others to imbibe it. I make you fortunate. You are bestowers of fortune for Bharat, so you should have so much intoxication. Whatever is Mama’s praise is praise of the Father and also of Dada. You children should do physical service of the sacrificial fire and definitely do spiritual service too. Give everyone the mantra of “Manmanabhav”. “Manmanabhav” means to serve through the mind and “Madhyajibhav” means to serve through words. Serving through deeds is also included in that. You kumaris should become engaged in service. Very good service takes place in the villages. There is a lot of fashion in the big cities. There is a lot of temptation and so what can they do? Should we leave out the big cities? We can’t do that. The sound will spread in the big cities through the wealthy ones. However, the world has to be made into heaven with the magic of “Manmanabhav”. The Father sits here and explains who this Jagadamba is. She is the bestower of one hundred-fold fortune for Bharat. Her Shiv Shakti Army is also well known. Jagadamba is the head, that is, she is the head who establishes the one Government in Bharat. The incarnation of Shaktis, the mothers of Bharat, established the one Government in Bharat by following shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your intellect connected in yoga to the one Father. Make this world into heaven with the magic of the mantra of “Manmanabhav”.
  2. Never become tired of doing service. Together with physical service, also do spiritual service. Remind everyone of the mantra of “Manmanabhav”.
Blessing: May you be an embodiment of success who achieves success in service with the powers to discern and decide.
Those who recognise the Father, themselves, the time, the Brahmin family and their elevated task with the power of discernment and then decide what they want to become and what they have to do are the ones who always achieve success in their service, in the things they do and in coming into connection and relationship with others. The basis of being an embodiment of success in service through mind, words and deeds, is the power to discern and decide.
Slogan: Become filled with the light and might of knowledge and yoga and you will overcome any adverse situation in a second.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 December 2018

To Read Murli 27 December 2018 :- Click Here
28-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पुरानी दुनिया से ममत्व छोड़ सर्विस करने का उमंग रखो, हुल्लास में रहो, सर्विस में कभी थकना नहीं है”
प्रश्नः- जिन बच्चों को ज्ञान का नशा चढ़ा होगा, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उन्हें सर्विस का बहुत-बहुत शौक होगा। वह सदा मन्सा और वाचा सेवा में तत्पर रहेंगे। सबको बाप का परिचय दे सबूत देंगे। बादशाही स्थापन करने निमित्त सहन भी करना पड़े तो सहन करेंगे। बाप के पूरे-पूरे मददगार बन भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करेंगे।
गीत:- माता ओ माता तू सबकी भाग्य विधाता …….. 

ओम् शान्ति। अब नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार बच्चे माता को जानते हैं। माँ को जानते हैं तो जरूर बाप को भी जानेंगे। यह माँ-बाप सौभाग्य विधाता और भाग्य विधाता हैं। सौभाग्य विधाता उन्हें कहेंगे जो पुरुषार्थ कर अपना पूरा सौभाग्य बनाते हैं, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी घराने में वर्सा लेते हैं सो भी नम्बरवार। बहुत तो ऐसे भी हैं जैसे भील होते हैं ना। बहुत साधारण प्रजा में जाकर जन्म लेंगे। वह मर्तबा नहीं पा सकते। बाप तो जरूर समझायेंगे – बच्चे, इस पुरानी दुनिया से ममत्व मत रखो। दुनिया बिचारी तो चिल्लाती रहती है। बच्चों में सर्विस करने का शौक और उमंग चाहिए। किन्हों को भल उमंग आता है, परन्तु सर्विस करने का ढंग नहीं आता है। डायरेक्शन तो बहुत मिलते हैं। लिखत भी बड़ी रिफाइन चाहिए। त्रिमूर्ति और झाड़ के चित्र 30X40” के होने चाहिए। यह बहुत यूज़फुल चीज़ें हैं। परन्तु इनका कदर बच्चों में कम है। भल संजय का बहुत मान है परन्तु वह गायन पिछाड़ी का है। जैसे कहते हैं अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो, वह भी पिछाड़ी की अवस्था का गायन है। अभी वह सुख किसको थोड़ेही है। अभी तो रोते गिरते रहते हैं। माया थप्पड़ मार देती है। भल रोज़ आते हैं परन्तु वह नशा थोड़ेही चढ़ता है। तुमको सर्विस के चांस बहुत मिलते हैं।

अब कहते रहते हैं वन रिलीजन हो। वन गवर्मेन्ट भारत में थी। उनको ही स्वर्ग कहा जाता था। परन्तु कोई जानते नहीं। 5 हजार वर्ष पहले की बात है जबकि एक गवर्मेन्ट थी। 2500 वर्ष भी कह सकते हैं क्योंकि राम के राज्य में भी एक गवर्मेन्ट थी। 2500 वर्ष आगे सतयुग-त्रेता में वन गवर्मेन्ट थी। दो थी ही नहीं, जो ताली बजे। यहाँ भी कहते रहते हैं हिन्दू चीनी भाई-भाई फिर देखो क्या करते रहते हैं! गोली चलाते रहते हैं। यह दुनिया ही ऐसी है। स्त्री-पुरुष भी आपस में लड़ पड़ते हैं। स्त्री पति को भी थप्पड़ मारने में देर नहीं करती। घर-घर में बहुत झगड़े रहते हैं। भारतवासी भी भूले हुए हैं कि 2500 वर्ष पहले की बात है जबकि वन गवर्मेन्ट थी। अभी तो अनेक गवर्मेन्ट, अनेक धर्म हैं तो जरूर झगड़ा रहेगा। तुम बतलाते हो भारत में एक गवर्मेन्ट थी। उसको कहा जाता है भगवान् भगवती की गवर्मेन्ट। भक्ति मार्ग होता ही बाद में है। सतयुग त्रेता में भक्ति होती नहीं। मनुष्य अपना अहंकार बहुत दिखाते हैं परन्तु ज्ञान कौड़ी का भी नहीं है। यूं ज्ञान तो बहुत है ना। डॉक्टरी का ज्ञान, बैरिस्टरी का ज्ञान….। बाप कहते हैं जो डॉक्टर ऑफ फिलासाफी कहलाते हैं उनके पास यह ज्ञान जरा भी नहीं है। फिलासाफी किसको कहा जाता है – यह भी समझते नहीं। तो तुम बच्चों को सर्विस का शौक रखना है, स्थापना में मददगार बनना है। अच्छी चीज़ बनाकर देनी है। जैसे मनुष्य वैसा निमंत्रण दिया जाता है। जैसे गवर्मेन्ट में बहुत ऑफीसर्स हैं, एज्यूकेशन मिनिस्टर है, चीफ मिनिस्टर है, यहाँ भी ऑफिस होनी चाहिए। डायरेक्शन निकलें वह फिर अमल में लावें। अब देखो गोरखपुरी गीतायें निकलती हैं सब फ्री देने के लिए तैयार रहते हैं। जो भी संस्थायें हैं उनको फन्ड्स बहुत है। कश्मीर का महाराजा मरा तो सारी मिलकियत आर्य समाजियों को मिली क्योंकि आर्य-समाजी था। सन्यासियों आदि के पास भी बहुत पैसे रहते हैं। तुम्हारे पास भी जो पैसा आदि है वह सब इस सेवा में लगा रहे हो ताकि भारत स्वर्ग बनें। तुम स्वर्ग बनाने में मदद करते हो। रात-दिन का फ़र्क है। वह दिन प्रतिदिन नर्कवासी बनते जाते हैं तुमको अब बाप स्वर्गवासी बनाते हैं। हैं तो सब गरीब, ऐसे नहीं कि हम पैसे इकट्ठे करते हैं। तुम तो कहते हो बाबा यह पाई पैसा सब यज्ञ में, सर्विस में लगा दो। इस समय तो सब आपस में लड़ते रहते हैं। वन गवर्मेन्ट तो हो नहीं सकती। तो गवर्मेन्ट को बताना चाहिए कि सूर्यवशी चन्द्रवंशी बरोबर वन गवर्मेन्ट थी। तुम भी चाहते हो तो वह होगी जरूर। बाप स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। वह है ही हेविनली गॉड फादर। हम वन डीटी गवर्मेन्ट स्थापन कर रहे हैं। वहाँ डेविल गवर्मेन्ट होती नहीं। उन सबका विनाश हो जाता है। तुम्हारे पास नॉलेज बहुत अच्छी है, बहुत काम हो सकता है। देहली हेड आफिस है। बहुत सेवा कर सकते हैं। वहाँ बच्चे भी बहुत अच्छे हैं। जगदीश संजय भी है। परन्तु संजय तो सब हैं ना, एक नहीं। तुम हर एक संजय हो। तुम्हारा काम है – सबको रास्ता बताना। बाप तो अच्छी राति समझाते रहते हैं, परन्तु बच्चे अपने ही धन्धेधोरी में, बच्चों आदि की सम्भाल में फँसे हुए हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप के मददगार बनें, वह नहीं हैं। यहाँ तो सर्विस कर दिखाना है। वन गवर्मेन्ट कैसे स्थापन हो रही है, यह पा, ड्रामा देखो समय दिखा रहा है। जैसे रावण का चित्र बनाया है, वैसे बड़ा चक्र बनाकर लिखना चाहिए – अब कांटा आकर पहुँचा है। फिर वन गवर्मेन्ट होनी है। बाबा डायरेक्शन देते हैं। शिवबाबा तो गलियों में जाकर धक्के नहीं खायेंगे। अगर यह जाए तो गोया शिवबाबा को धक्के खाने पड़े। बच्चों को रिगार्ड रखना चाहिए। यह सर्विस करना बच्चों का काम है। लिखना चाहिए वन गवर्मेन्ट, जो भारत में थी, वह फिर से स्थापन हो रही है। कितने वर्षो से यह यज्ञ रचा हुआ है! सारी दुनिया का जो कचरा है वह इसमें समा जाना है। है बहुत सहज, परन्तु सभी को समझाने में समय चाहिए। राजा तो कोई है नहीं। किसी एक को सभी थोड़ेही मानेंगे। पहले कोई भी नई इनवेन्शन निकलती थी तो राजाओं द्वारा उसका विस्तार कराते थे क्योंकि राजा में ताकत रहती है। किंग बनते हैं या तो राजयोग से या बहुत धन दान करने से। यहाँ तो है ही प्रजा का राज्य। एक गवर्मेन्ट नहीं है। एक फ़कीर सिपाही भी गवर्मेन्ट है, किसका पटका उतारने में देरी नहीं करते। ऐसे बहुत काम होते रहते हैं। दो पैसा दो तो बड़े मिनिस्टर को भी मार डालते हैं।

तो तुम बच्चों को सेवा का चांस लेना है, सोना नही है। जैसे सतसंग में कथा सुनकर फिर घर में जाकर वैसे ही बन जाते, कोई हुल्लास नहीं रहता। ऐसे बच्चों में भी हुल्लास कम है। गवर्मेन्ट का बगीचा होता है तो उसमें बहुत अच्छे फर्स्टक्लास फूल होते हैं, उनकी डिपार्टमेन्ट ही अलग होती है। कोई भी जायेंगे तो पहले फर्स्टक्लास फूल लाकर देंगे। बाप की भी यह फुलवाड़ी है, कोई आयेंगे तो हम क्या सैर करायेंगे? नाम बतायेंगे-यह अच्छे-अच्छे फूल हैं। टांगर, अक के भी फूल बैठे हैं, चमकते नहीं हैं, सर्विस नहीं करते। रोज़ कोई न कोई को बाप का परिचय अवश्य देना चाहिए। तुम तो हो गुप्त, कितने विघ्न पड़ते हैं। सर्विस लायक बने नहीं हैं। बाबा बार-बार कहते हैं मन्दिरों में जाओ, शमशान में जाओ, भाषण जाकर करना चाहिए। बच्चों को सर्विस का सबूत देना है। सैकड़ों से कोई निकलेंगे। मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी समझाना चाहिए। यहाँ आने से डरते हैं तो घर में जाकर समझा सकते हो। बाप का परिचय मिलने से बहुत खुश हो जायेंगे। बाबा कहते सर्विस में थकावट नही होनी चाहिए। 100 में से एक निकलेंगे। बादशाही स्थापन करने में सहन जरूर करना पड़े। जब तक गाली नहीं खाई है तब तक कलंगीधर नहीं बनेंगे। ज्ञान का नशा चढ़ा हुआ है। परन्तु रिजल्ट कहाँ! अच्छा, 10-20 को ज्ञान दिया, उनसे एक-दो जागे वह भी बतलाना चाहिए ना। सर्विस का शौक चाहिए तब बाबा इनाम देंगे। बाप का परिचय दो – तुम्हारा बाप कौन है? तब ही फिर वर्से का नशा चढ़े। तुम भाषण करो – वर्ल्ड में सिवाए ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियों के वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कोई भी नहीं जानते। चैलेन्ज करो। बाबा ने शमशान की बात उठाई तो तुमको शमशान में जाकर सर्विस करनी चाहिए। धन्धाधोरी तो फिर भी 6-8 घण्टा करेंगे, बाकी समय कहाँ चला जाता है? ऐसे फिर ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाबा कहेंगे तुम आये हो नारायण को वा लक्ष्मी को वरने परन्तु अपनी शक्ल तो देखो। बाबा समझाते तो ठीक हैं ना। एक ही टॉपिक उठाओ वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी आकर समझो-कैसे रिपीट होती है। अखबार में डालो। हाल लेने की कोशिश करो। तुमको तीन पैर पृथ्वी नहीं मिलती। पहचानते नहीं हैं।

तुम हो परमधाम के फारेनर्स। आत्मायें सब परमधाम से आई हैं, तो यहाँ सब फारेनर्स हुए ना। परन्तु तुम्हारी यह भाषा कोई समझते नहीं। यहाँ साकार में नहीं बताया जाता कि पांव छुओ, यह करो। जैसे साधू-महात्माओं के पांव चूमकर धोकर पीते हैं, उसको तत्व पूजा कहा जाता है। 5 तत्वों का शरीर है ना। भारत का क्या हाल हो गया है। तो बाप कहते हैं सर्विस का सबूत दो, सभी को सुख दो। यहाँ तो बस यह तात लगी रहे, यह चिंता रहे। बुद्धियोग बाप के साथ हो।

गीत:- माता तू सबकी भाग्य विधाता…..

माता जगत अम्बा भाग्य विधाता है। पद माता पाती है। वह भी कहती शिवबाबा को याद करो, मैं भी उनसे धारण करके औरों को धारण कराती हूँ, सौभाग्य बनाती हूँ। तुम हो भारत के सौभाग्य विधाता। तो कितना नशा होना चाहिए। जो मम्मा की महिमा सो बाप की महिमा, सो दादे की। तुम बच्चों को यज्ञ की स्थूल सेवा भी करनी चाहिए तो रूहानी सेवा भी जरूर करनी चाहिए। मनमनाभव का मंत्र सबको देना है। मनमनाभव यह है मन्सा, मध्याजी भव यह है वाचा। इसमें कर्मणा भी आ गई। कन्याओं को सर्विस में लग जाना चाहिए।

गांवों में सर्विस अच्छी होती है। बड़े शहरों में बहुत फैशन है। टैम्पटेशन बहुत है तो क्या करें? क्या बड़े शहरों को छोड़ दें? ऐसे भी नहीं। बड़े शहरों से, साहूकारों से आवाज़ निकलेगा। बाकी दुनिया को तो इस मनमनाभव के छू मंत्र से स्वर्ग बनाना है। बाप बैठ समझाते हैं यह जगदम्बा कौन है, यह है भारत की सौभाग्य विधाता, इनकी शिव शक्ति सेना भी मशहूर है। हेड है जगदम्बा अर्थात् भारत में वन गवर्मेन्ट की स्थापना करने वाली हेड। भारत माता शक्ति अवतारों ने भारत में वन गवर्मेन्ट स्थापन की है, श्रीमत के आधार पर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धियोग एक बाप से रखना है, मनमनाभव के छू मंत्र से इस दुनिया को स्वर्ग बनाना है।

2) सर्विस में कभी थकना नहीं है। स्थूल सेवा के साथ-साथ रूहानी सेवा भी करनी है। मनमना-भव का मंत्र सबको याद दिलाना है।

वरदान:- परखने वा निर्णय करने की शक्ति द्वारा सेवा में सफलता प्राप्त करने वाले सफलता-मूर्त भव
जो परखने की शक्ति द्वारा बाप को, अपने आपको, समय को, ब्राह्मण परिवार को और अपने श्रेष्ठ कर्तव्य को पहचान कर फिर निर्णय करते हैं कि क्या बनना है और क्या करना है, वही सेवा करते, कर्म वा संबंध सम्पर्क में आते सदा सफलता प्राप्त करते हैं। मन्सा-वाचा-कर्मणा हर प्रकार की सेवा में सफलतामूर्त बनने का आधार है परखने और निर्णय करने की शक्ति।
स्लोगन:- ज्ञान योग की लाइट माइट से सम्पन्न बनो तो किसी भी परिस्थिति को सेकेण्ड में पार कर लेंगे।
Font Resize