daily murli 27 september

TODAY MURLI 27 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 September 2020

27/09/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/03/86

Be constantly loving.

Today, the Father, the Ocean of Love, has come to meet His loving children. This spiritual love makes every child an easy yogi. This love is an easy way to forget the whole of the old world. This love is the only powerful means to make every soul belong to the Father. Love is the foundation of Brahmin life. Love is the basis of the sustenance needed to create a powerful life. All the elevated souls who have arrived personally in front of the Father have come here on the basis of their love. You come flying here with the wings of love and become residents of Madhuban. BapDada was seeing all you loving children, how all of you are loving, but what is the difference between you? Why do you become numberwise? What is the reason for this? All of you are loving, but some of you are constantly loving whereas others are just loving and the third category are those who fulfil the responsibility of love according to the time. BapDada saw these three types of loving children.

Because those who are constantly loving are merged in love, they are always beyond having to make any effort or experiencing difficulty. Neither do they have to make effort nor do they experience anything to be difficult. Because they are constantly loving, the elements of nature and Maya become their servants from now on, that is, the constantly loving souls become the masters. Therefore, the elements of nature and Maya automatically become their servants. The elements of nature and Maya do not have the courage to make constantly loving souls use their time and thoughts for them. Every moment and every thought of constantly loving souls is for remembrance of the Father and for doing service. This is why Maya and the elements of nature know that such constantly loving children can never be dependent on them, even in their thoughts. They are souls who have a right to all powers. The stage of constantly loving souls is praised as of those who belong to the one Father and none other. The Father is their world.

The second type, the loving souls, definitely remain loving but, because they are not constant, their thoughts and, through them, their love sometimes goes in other directions. In transforming themselves, every now and again, they experience having to make effort and sometimes they experience difficulty, but very little. Whenever there is a subtle attack from the elements of nature or Maya, then, because of love, they have remembrance very quickly, and they very quickly transform themselves with their power of remembrance. However, some of their time and their thoughts are used in overcoming the difficulty and in making that effort. Sometimes their love becomes ordinary, and at other times they remain absorbed in love. There continues to be a difference in their stage. Nevertheless, not too much of their time or their thoughts is wasted. This is why, although they are loving, they are not constantly loving and they therefore become the second number.

The third type are those who fulfil the responsibility of love according to the time. Such souls believe that true love cannot be received from anyone except the one Father, and that this spiritual love will make you elevated for all time. They have total knowledge, that is, understanding, and they still love just this life of love. However, because of not having controlling power, due to their attachment to their own bodies or sanskars, or attachment to a particular old sanskar, attachment to the sanskar of a person or possession, or to a sanskar of having waste thoughts, they carry a burden of waste thoughts. Or, because they lack the power of the gathering, they are unable to be successful in a gathering. A situation in the gathering finishes their love and pulls them towards itself. Some of them always become disheartened very quickly. One minute, they would be flying very high, but if you look at them the next minute, they would be disheartened even with themselves. This sanskar of becoming disheartened with themselves doesn’t allow them to be constantly loving. Some type of sanskar attracts them towards situations or nature. They get into an upheaval, but then, because they experience love and love the life of love, they are nevertheless able to remember the Father. They try to become merged in the Father’s love once again. So, because of coming into upheaval according to the time and the situation, they sometimes have remembrance and sometimes are battling. Because they spend a greater part of their lives battling, their lives of being absorbed in love are then less in comparison. This is why they take the third number. Nevertheless, to be in the third number, compared with all the souls of the world, would still be said to be extremely elevated, because they have recognised the Father, they belong to the Father and the Brahmin family. They are at least called the most elevated Brahmin souls, the Brahma Kumars and Kumaris. This is why, in comparison to the world, even they (the third type) are loving souls. However, in comparison to perfection, they are the third number. So, all are loving, but numberwise. The number one, constantly loving souls are constantly like lotus flowers, detached and extremely loving to the Father. Loving souls are detached and loving, but they are not powerfully victorious like the Father. They are not absorbed in love, but are loving. Their special slogan is: I belong to You and I will remain Yours. They constantly continue to sing this song. Nevertheless, they have love and they therefore remain 80% safe. However, there is still the word “sometimes” that comes in between. The word “constantly” is not used about them. The third number souls, because of repeatedly having to connect their love, also continue to make promises with love. “That’s it. From today, I will become like this. From now, I will do this.” Because they know the difference, they make promises and they make effort, but one particular sanskar or other doesn’t allow them to remain lost in love. An obstacle brings them down from their stage of being lost in love. Therefore, the word “constantly” cannot be used about them. Because they are sometimes like this and at other times like that, they still have one particular weakness or other. Such souls have very sweet heart-to-heart conversations with BapDada. They demonstrate having a lot of rights. They say: The direction is from You, but You can also do it for us, and I will attain the reward of that. They say with love and a right: Since You have made me belong to You, it is now up to You. The Father says: The Father knows, but the child should at least accept it. However, those children say with a right: Whether I accept it or not, You will have to accept me as I am. So, the Father still feels mercy for such children because they are Brahmin children after all. Therefore, He also gives special power through the instrument souls. However, some do take their power and transform themselves, whereas others, even though they receive power, they remain so lost in their own sanskars that they are unable to imbibe that power. If you give something nourishing to someone to eat and he doesn’t eat it, what would happen?

The Father gives special love and some do gradually become powerful, and change from the third type of souls to the second type. However, because some of them are very careless, they are unable to take as much as they should. All three types of children are loving children. They all have the title of being loving children, but they are numberwise.

Today, it is the turn of Germany. The whole group is number one. You are number one, close jewels, because those who are equal also remain close. No matter how far away you may be physically, you are so close to the heart that you reside in the heart. Because you reside on the Father’s heart-throne, there is automatically no one except the Father in your hearts, because in Brahmin life, the Father makes a deal with the heart. You won His heart and you gave your hearts. You made a deal with your heart, did you not? You stay with the Father in your hearts. Physically, some of you stay in one place and others in another place. If all of you were to stay here, what would you do sitting here? Even those who were living in Madhuban had to be sent out to do service. How else would the world be served? You have love for Father and for doing service. This is why, according to the drama, you have reached different places and become instruments for doing service there. So, this too is fixed as part of the drama. You have become instruments for serving your equals. Those from Germany are those who remain constantly happy. Since you are receiving the inheritance from the Father for all time so easily, why should you put aside that which you receive for all time and only take a little or for some time? The Bestower is giving, and so why should those who are taking take any less? Therefore, always continue to swing in the swing of happiness. Always be conquerors of Maya, conquerors of nature, be victorious and beat the drums of victory loudly in front of the world.

Souls nowadays are either totally intoxicated with temporary facilities or they are weary with sorrow and peacelessness and are sleeping in such a deep sleep that they don’t hear a little sound. Those who are lost in that type of intoxication have to be really shaken awake. You also really have to shake those who are fast asleep in a deep sleep to awaken them. So, what are those from Hamburg doing? It is a very good, powerful group. All of you have deep love for the Father and the study. Those who love this study remain constantly powerful. To have love for the Father, that is, for the Murlidhar (the One who speaks the murli), means to have love for the murli. If you don’t have love for the murli, there cannot be love for the Murlidhar. No matter how much they say that they love the Father, but they don’t have time for the study, the Father does not believe them. Where there is deep love, no obstacles can remain; they will automatically end. Those who have love for the study and the murli easily overcome all obstacles. With their flying stage, they go up above the obstacles which remain down below. For those who are in the flying stage, a mountain is like a stone. Those who have love for the study can have no excuses. Love enables anything difficult to become easy. Love for the murli, love for the study and love for the family become a fortress, and those who stay in this fortress remain safe. Both these specialities are making this group move forward. Because of love for the study and the family, you bring one another close with that impact. The instrument soul you have is also a loving soul (Pushpal Dadi). Love does not see the language. The language of love is more elevated than all other languages. Everyone remembers her. BapDada also remembers her. Baba is seeing very good practical proof. There is growth in service. The more expansion you continue to have, the more blessings you will continue to receive from everyone as the fruit of becoming great souls. Only charitable souls become the souls who are worthy of worship. If you do not become a charitable soul at this time, you cannot become a soul worthy of worship in the future. It is also necessary to be a charitable soul. Achcha.

Selected Questions and answers from Avyakt Murlis

Question: What is the special virtue, decoration and treasure of Brahmin life?

Answer: Contentment. When something is loved, you never leave that loved thing. Contentment is a speciality and it is a special mirror for transformation in Brahmin life. Where there is contentment, there is definitely happiness there. If there is no contentment in Brahmin life, then that is an ordinary life.

Question: What are the specialities of those who are jewels of contentment?

Answer: Those who are jewels of contentment never become discontented with themselves, with other souls, with their own sanskars or with the influence of the atmosphere. They never say: I am content, but others are making me discontent. No matter what happens, jewels can never let go of their speciality of contentment.

Question: What are the signs of those who are always content?

Answer:

1. Those who always remain content are automatically loved by everyone because contentment makes you loved by the Brahmin family.

2. Others try to bring contented souls close to them and also want them to co-operate in an elevated task.

3. The speciality of contentment itself makes you a golden chancellor for a task. Such souls do not need to say or think about anything.

4. Contentment itself enables there to be harmony with everyone’s nature and sanskars. Contented souls are never afraid of anyone’s nature or sanskars.

5. Everyone loves such souls with their heart. They are worthy of receiving everyone’s love. The introduction of such souls is their contentment, and each one’s heart’s desire would be to talk to such souls and to sit with them.

6. Contented souls are constantly conquerors of Maya because they are obedient and always stay within the line of the codes of conduct. They recognise Maya from a distance.

Question: Why are you not able to recognise Maya at the right time, and why are you repeatedly deceived by her?

Answer: The reason for not recognising Maya is that you do not always follow the Father’s elevated directions. Sometimes you follow them and sometimes you don’t. Sometimes you remember Him and sometimes you don’t. Sometimes you have zeal and enthusiasm and sometimes you don’t. You do not always stay within the line of the directions and so Maya deceives you at that time. Maya has a lot of power of discernment and she sees when you are weak and so through that weakness she makes you belong to her. The door for Maya to enter is weakness.

Question: What is the easy way to become a conqueror of Maya?

Answer: Constantly stay with the Father. To stay with Him means automatically to stay within the line of the codes of conduct. You will then be freed from having to make effort to become free from each vice individually. When you stay with Him, then, as is the Father, so are you. You will automatically be coloured by His company, and so do not let go of the Seed or try to cut the branches. Today, I have become a conqueror of lust; the next day, I have to become a conqueror of anger. No, constantly be victorious. Simply keep the Seed with you and the seed of Maya will be burnt in such a way that no trace of it will remain.

Blessing: May you be a merciful world benefactor who gives courage and enthusiasm to every soul.
Never say to a weak soulin the Brahmin family, “You are weak”. Constantly let good words for every soul emerge from the lips of you merciful world benefactor children, not words which would dishearten anyone. No matter how weak some may be, even if you have to give them a signal or teaching, first of all make them powerful and then give them the teaching. First of all, plough the field with courage and enthusiasm and then sow the seeds, and each seed will then easily bear fruit. By doing this, the service of world benefit will become fast.
Slogan: Take blessings from the Father, and experience being constantly full.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-09-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-03-86 मधुबन

सदा के स्नेही बनो

आज स्नेह का सागर बाप अपने स्नेही बच्चों से मिलने के लिए आये हैं। यह रूहानी स्नेह हर बच्चे को सहजयोगी बना देता है। यह स्नेह सारे पुराने संसार को सहज भुलाने का साधन है। यह स्नेह हर आत्मा को बाप का बनाने में एकमात्र शक्तिशाली साधन है। स्नेह ब्राह्मण जीवन का फाउण्डेशन है। स्नेह शक्तिशाली जीवन बनाने का, पालना का आधार है। सभी जो भी श्रेष्ठ आत्मायें बाप के पास सम्मुख पहुँची हैं, उन सभी के पहुँचने का आधार भी स्नेह है। स्नेह के पंखों से उड़ते हुए आकर मधुबन निवासी बनते हैं। बापदादा सर्व स्नेही बच्चों को देख रहे थे कि स्नेही तो सब बच्चे हैं लेकिन अन्तर क्या है! नम्बरवार क्यों बनते हैं, कारण? स्नेही सभी हैं लेकिन कोई हैं सदा स्नेही और कोई है स्नेही। और तीसरे हैं समय प्रमाण स्नेह निभाने वाले। बापदादा ने तीन प्रकार के स्नेही देखे।

जो सदा स्नेही हैं वह लवलीन होने के कारण मेहनत और मुश्किल से सदा ऊंचे रहते हैं। न मेहनत करनी पड़ती, न मुश्किल का अनुभव होता क्योंकि सदा स्नेही होने के कारण उन्हों के आगे प्रकृति और माया दोनों अभी से दासी बन जाती अर्थात् सदा स्नेही आत्मा मालिक बन जाती तो प्रकृति, माया स्वत: ही दासी रूप में हो जाती। प्रकृति, माया की हिम्मत नहीं जो सदा स्नेही का समय वा संकल्प अपने तरफ लगावे। सदा स्नेही आत्माओं का हर समय, हर संकल्प है ही बाप की याद और सेवा के प्रति इसलिए प्रकृति और माया भी जानती हैं कि यह सदा स्नेही बच्चे संकल्प से भी कभी हमारे अधीन नहीं हो सकते। सर्व शक्तियों के अधिकारी आत्मायें हैं। सदा स्नेही आत्मा की स्थिति का ही गायन है। एक बाप दूसरा न कोई। बाप ही संसार है।

दूसरा नम्बर – स्नेही आत्मायें, स्नेह में रहती जरूर हैं लेकिन सदा न होने कारण कभी-कभी मन के संकल्प द्वारा भी कहाँ और तरफ स्नेह जाता। बहुत थोड़ा बीच-बीच में स्वयं को परिवर्तन करने के कारण कभी मेहनत का, कभी मुश्किल का अनुभव करते। लेकिन बहुत थोड़ा। जब भी कोई प्रकृति वा माया का सूक्ष्म वार हो जाता है तो उसी समय स्नेह के कारण याद जल्दी आ जाती है और याद की शक्ति से अपने को बहुत जल्दी परिवर्तन भी कर लेते हैं। लेकिन थोड़ा-सा समय और फिर भी संकल्प मुश्किल या मेहनत में लग जाता है। कभी-कभी स्नेह साधारण हो जाता। कभी-कभी स्नेह में लवलीन रहते। स्टेज में फ़र्क पड़ता रहता। लेकिन फिर भी ज्यादा समय या संकल्प व्यर्थ नहीं जाता इसलिए स्नेही हैं लेकिन सदा स्नेही न होने के कारण सेकण्ड नम्बर हो जाते।

तीसरे हैं – समय प्रमाण स्नेह निभाने वाले। ऐसी आत्मायें समझती हैं कि सच्चा स्नेह सिवाए बाप के और कोई से मिल नहीं सकता और यही रूहानी स्नेह सदा के लिए श्रेष्ठ बनाने वाला है। ज्ञान अर्थात् समझ पूरी है और यही स्नेही जीवन प्रिय भी लगती है। लेकिन कोई अपनी देह के लगाव के संस्कार या कोई भी विशेष पुराना संस्कार वा किसी व्यक्ति वा वस्तु के संस्कार वा व्यर्थ संकल्पों के संस्कार वश कन्ट्रोलिंग पावर न होने के कारण व्यर्थ संकल्पों का बोझ है। वा संगठन की शक्ति की कमी होने के कारण संगठन में सफल नहीं हो सकते। संगठन की परिस्थिति स्नेह को समाप्त कर अपने तरफ खींच लेती है। और कोई सदा ही दिल-शिकस्त जल्दी होते हैं। अभी-अभी बहुत अच्छे उड़ते रहेंगे और अभी-अभी देखो तो अपने आप से ही दिलशिकस्त। यह स्वयं से दिलशिकस्त होने का संस्कार भी सदा स्नेही बनने नहीं देता। किसी न किसी प्रकार का संस्कार परिस्थिति की तरफ, प्रकृति की तरफ आकर्षित कर देता है। और जब हलचल में आ जाते हैं तो स्नेह का अनुभव होने के कारण, स्नेही जीवन प्रिय लगने के कारण फिर बाप की याद आती है। प्रयत्न करते हैं कि अभी फिर से बाप के स्नेह में समा जावें। तो समय प्रमाण, परिस्थिति प्रमाण हलचल में आने के कारण कभी याद करते हैं, कभी युद्ध करते हैं। युद्ध की जीवन ज्यादा होती और स्नेह में समाने की जीवन उसके अन्तर में कम होती है इसलिए तीसरा नम्बर बन जाते हैं। फिर भी विश्व की सर्व आत्माओं से तीसरा नम्बर भी अति श्रेष्ठ ही कहेंगे क्योंकि बाप को पहचाना, बाप के बने, ब्राह्मण परिवार के बने। ऊंचे ते ऊंची ब्राह्मण आत्मायें ब्रह्माकुमार, ब्रह्माकुमारी कहलाते इसलिए दुनिया के अन्तर में वह भी श्रेष्ठ आत्मायें हैं। लेकिन सम्पूर्णता के अन्तर में तीसरा नम्बर हैं। तो स्नेही सभी हैं लेकिन नम्बरवार हैं। नम्बरवन सदा स्नेही आत्मायें सदा कमल पुष्प समान न्यारी और बाप की अति प्यारी हैं। स्नेही आत्मायें न्यारी हैं प्यारी भी हैं लेकिन बाप समान शक्तिशाली विजयी नहीं हैं। लवलीन नहीं है लेकिन स्नेही हैं। उन्हों का विशेष यही स्लोगन है – तुम्हारे हैं, तुम्हारे रहेंगे। सदा यह गीत गाते रहते। फिर भी स्नेह है इसलिए 80 परसेन्ट सेफ रहते हैं। लेकिन फिर भी कभी-कभी शब्द आ जाता। सदा शब्द नहीं आता। और तीसरे नम्बर आत्मायें बार-बार स्नेह के कारण प्रतिज्ञायें भी स्नेह से करते रहते। बस अभी से ऐसे बनना है। अभी से यह करेंगे क्योंकि अन्तर तो जानते हैं ना। प्रतिज्ञा भी करते, पुरूषार्थ भी करते लेकिन कोई न कोई विशेष पुराना संस्कार लगन में मगन रहने नहीं देता। विघ्न मगन अवस्था से नीचे ले आते इसलिए सदा शब्द नहीं आ सकता। लेकिन कभी कैसे, कभी कैसे होने के कारण कोई न कोई विशेष कमजोरी रह जाती है। ऐसी आत्मायें बापदादा के आगे रूहरिहान भी बहुत मीठी करते हैं। हुज्जत बहुत दिखाते। कहते हैं डायरेक्शन तो आपके हैं लेकिन हमारी तरफ से करो भी आप और पावें हम। हुज्जत से स्नेह से कहते जब आपने अपना बनाया है तो आप ही जानो। बाप कहते हैं बाप तो जानें लेकिन बच्चे मानें तो सही। लेकिन बच्चे हुज्जत से यही कहते कि हम माने न माने आपको मानना ही पड़ेगा। तो बाप को फिर भी बच्चों पर रहम आता है कि हैं तो ब्राह्मण बच्चे इसलिए स्वयं भी निमित्त बनी हुई आत्माओं द्वारा विशेष शक्ति देते हैं। लेकिन कोई शक्ति लेकर बदल भी जाते और कोई शक्ति मिलते भी अपने संस्कारों में मस्त होने कारण शक्ति को धारण नहीं कर सकते। जैसे कोई ताकत की चीज़ खिलाओ और वह खावे ही नहीं, तो क्या करेंगे!

बाप विशेष शक्ति देते भी हैं और कोई-कोई धीरे-धीरे शक्तिशाली बनते-बनते तीसरे नम्बर से दूसरे नम्बर में आ भी जाते हैं। लेकिन कोई-कोई बहुत अलबेले होने के कारण जितना लेना चाहिए उतना नहीं ले सकते। तीनों प्रकार के स्नेही बच्चे हैं। टाइटिल सभी का स्नेही बच्चे है लेकिन नम्बरवार हैं।

आज जर्मनी वालों का टर्न है। सारा ही ग्रुप नम्बरवन है ना। नम्बरवन समीप रत्न हैं क्योंकि जो समान होते हैं वो ही समीप रहते हैं। शरीर से भले कितना भी दूर हो लेकिन दिल से इतने नजदीक हैं जो रहते ही दिल में हैं। स्वयं बाप के दिलतख्त पर रहते हैं उन्हों के दिल में स्वत: ही बाप के सिवाए और कोई नहीं क्योंकि ब्राह्मण जीवन में बाप ने दिल का ही सौदा किया है। दिल ली और दिल दी। दिल का सौदा किया है ना। दिल से बाप के साथ रहते हो। शरीर से तो कोई कहाँ, कोई कहाँ रहते। सभी को यहाँ रखें तो क्या बैठ करेंगे! सेवा के लिए तो मधुबन में साथ रहने वालों को भी बाहर भेजना पड़ा। नहीं तो विश्व की सेवा कैसे होती। बाप से भी प्यार है तो सेवा से भी प्यार है इसलिए ड्रामा अनुसार भिन्न-भिन्न स्थानों पर पहुँच गये हो और वहाँ की सेवा के निमित्त बन गये हो। तो यह भी ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है। अपने हमजिन्स की सेवा के निमित्त बन गये। जर्मनी वाले सदा खुश रहने वाले हैं ना। जब बाप से सदा का वर्सा इतना सहज मिल रहा है तो सदा को छोड़ थोड़ा सा वा कभी-कभी का क्यों लेवें! दाता दे रहा है तो लेने वाले कम क्यों लेवें इसलिए सदा खुशी के झूले में झूलते रहो। सदा माया-जीत, प्रकृति जीत विजयी बन विजय का नगारा विश्व के आगे जोर-शोर से बजाओ।

आजकल की आत्मायें विनाशी साधनों में या तो बहुत मस्त नशे में चूर हैं और या तो दु:ख अशान्ति से थके हुए ऐसी गहरी नींद में सोये हुए हैं जो छोटा आवाज सुनने वाले नहीं हैं। नशे में जो चूर होता है उनको हिलाना पड़ता है। गहरी नींद वाले को भी हिलाकर उठाना पड़ता है। तो हैमबर्ग वाले क्या कर रहे हैं? अच्छा ही शक्तिशाली ग्रुप है। सभी की बाप और पढ़ाई से प्रीत अच्छी है। जिन्हों की पढ़ाई से प्रीत है वह सदा शक्तिशाली रहते। बाप अर्थात् मुरलीधर से प्रीत माना मुरली से प्रीत। मुरली से प्रीत नहीं तो मुरलीधर से भी प्रीत नहीं। कितना भी कोई कहे कि मुझे बाप से प्यार है लेकिन पढ़ाई के लिए टाइम नहीं। बाप नहीं मानते। जहाँ लगन होती है वहाँ कोई विघ्न ठहर नहीं सकते। स्वत: ही समाप्त हो जायेंगे। पढ़ाई की प्रीत, मुरली से प्रीत वाले, विघ्नों को सहज पार कर लेते हैं। उड़ती कला द्वारा स्वयं ऊंचे हो जाते। विघ्न नीचे रह जाते। उड़ती कला वाले के लिए पहाड़ भी एक पत्थर समान है। पढ़ाई से प्रीत रखने वालों के लिए बहाना कोई नहीं होता। प्रीत, मुश्किल को सहज कर देती है। एक मुरली से प्यार, पढ़ाई से प्यार और परिवार का प्यार किला बन जाता है। किले में रहने वाले सेफ हो जाते हैं। इस ग्रुप को यह दोनों विशेषतायें आगे बढ़ा रही हैं। पढ़ाई और परिवार के प्यार कारण एक दो को प्यार के प्रभाव से समीप बना देते हैं। और फिर निमित्त आत्मा (पुष्पाल) भी प्यार वाली मिली है। स्नेह, भाषा को भी नहीं देखता। स्नेह की भाषा सभी भाषाओं से श्रेष्ठ है। सभी उनको याद कर रहे हैं। बापदादा को भी याद है। अच्छा ही प्रत्यक्ष प्रमाण देख रहे हैं। सेवा की वृद्धि हो रही है। जितना वृद्धि करते रहेंगे उतना महान पुण्य आत्मा बनने का फल सर्व की आशीर्वाद प्राप्त होती रहेगी। पुण्य आत्मा ही पूज्य आत्मा बनती है। अभी पुण्य आत्मा नहीं तो भविष्य में पूज्य आत्मा नहीं बन सकते। पुण्य आत्मा बनना भी जरूरी है। अच्छा!

अव्यक्त मुरलियों से चुने हुए प्रश्न-उत्तर

प्रश्न:- ब्राह्मण जीवन का विशेष गुण, श्रंगार वा खजाना कौन सा है?

उत्तर:-’‘सन्तुष्टता”। जैसे कोई प्रिय वस्तु होती है तो प्रिय वस्तु को कभी छोड़ते नहीं हैं, सन्तुष्टता विशेषता है, ब्राह्मण जीवन के परिवर्तन का विशेष दर्पण है। जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ खुशी जरूर है। यदि ब्राह्मण जीवन में सन्तुष्टता नहीं तो वह साधारण जीवन है।

प्रश्न:-सन्तुष्टमणियों की विशेषतायें क्या होंगी?

उत्तर:-सन्तुष्टमणियां कभी किसी भी कारण से स्वयं से, अन्य आत्माओं से, अपने संस्कारों से, वायुमण्डल के प्रभाव से असन्तुष्ट नहीं हो सकती। वे ऐसे कभी नहीं कहेंगी कि हम तो सन्तुष्ट हैं लेकिन दूसरे असन्तुष्ट करते हैं। कुछ भी हो जाए सन्तुष्ट मणियां अपने सन्तुष्टता की विशेषता को छोड़ नहीं सकती।

प्रश्न:-जो सदा सन्तुष्ट रहते हैं उनकी निशानियां क्या होंगी?

उत्तर:-1-जो सदा सन्तुष्ट रहता है उसके प्रति स्वत:सभी का स्नेह रहता है क्योंकि सन्तुष्टता ब्राह्मण परिवार का स्नेही बना देती है।

2- सन्तुष्ट आत्मा को सभी स्वयं ही समीप लाने वा हर श्रेष्ठ कार्य में सहयोगी बनाने का प्रयत्न करेंगे।

3- सन्तुष्टता की विशेषता स्वयं ही हर कार्य में गोल्डन चांसलर बना देती है। उन्हें कहना या सोचना भी नहीं पड़ता है।

4- सन्तुष्टता सदा सर्व के स्वभाव संस्कार को मिलाने वाली होती है। वह कभी किसी के स्वभाव-संस्कार से घबराने वाले नहीं होते।

5- उनसे सभी का स्वत: दिल का प्यार होता है। वह प्यार लेने के पात्र होते हैं। सन्तुष्टता ही उस आत्मा की पहचान दिलाती है। हर एक की दिल होगी इनसे बात करें, इनसे बैठें।

6- सन्तुष्ट आत्मायें सदा मायाजीत हैं ही क्योंकि आज्ञाकारी हैं, सदा मर्यादा की लकीर के अन्दर रहते हैं। माया को दूर से ही पहचान लेते हैं।

प्रश्न:- यदि समय पर माया को पहचान नहीं पाते, बार-बार धोखा खा लेते तो उसका कारण क्या?

उत्तर:-पहचान कम होने का कारण है-सदा बाप की श्रेष्ठ मत पर नहीं चलते हैं। कोई समय चलते हैं, कोई समय नहीं। कोई समय याद करते हैं, कोई समय नहीं। कोई समय उमंग-उत्साह में रहेंगे कोई समय नहीं। सदा आज्ञा की लकीर के अन्दर नहीं रहते इसलिए माया समय पर धोखा दे देती है। माया में परखने की शक्ति बहुत है, माया देखती है कि इस समय यह कमजोर है, तो उस कमजोरी द्वारा अपना बना देती है। माया के आने का रास्ता है ही कमजोरी।

प्रश्न:- मायाजीत बनने का सहज साधन कौन सा है?

उत्तर:- सदा बाप के साथ रहो, साथ रहना अर्थात् स्वत:मर्यादाओं की लकीर के अन्दर रहना। फिर एक-एक विकार के पीछे विजयी बनने की मेहनत करने से छूट जायेंगे। साथ रहो तो जैसा बाप वैसे आप। संग का रंग स्वत: ही लग जायेगा इसलिए बीज को छोड़ सिर्फ शाखाओं को काटने की मेहनत नहीं करो। आज कामजीत बन गये, कल क्रोध जीत बन गये। नहीं। सदा विजयी। सिर्फ बीजरूप को साथ रखो तो माया का बीज ऐसे भस्म हो जायेगा जो फिर कभी भी उस बीज से अंश भी नहीं निकल सकता।

वरदान:- हर आत्मा को हिम्मत, उल्लास दिलाने वाले, रहमदिल, विश्व कल्याणकारी भव
कभी भी ब्राह्मण परिवार में किसी कमजोर आत्मा को, तुम कमजोर हो-ऐसे नहीं कहना। आप रहमदिल विश्व कल्याणकारी बच्चों के मुख से सदैव हर आत्मा के प्रति शुभ बोल निकलने चाहिए, दिलशिकस्त बनाने वाले नहीं। चाहे कोई कितना भी कमजोर हो, उसे इशारा या शिक्षा भी देनी हो तो पहले समर्थ बनाकर फिर शिक्षा दो। पहले धरनी पर हिम्मत और उत्साह का हल चलाओ फिर बीज डालो तो सहज हर बीज का फल निकलेगा, इससे विश्व कल्याण की सेवा तीव्र हो जायेगी।
स्लोगन:- बाप की दुआयें लेते हुए सदा भरपूरता का अनुभव करो।

TODAY MURLI 27 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 September 2018 :- Click Here

27/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make the practice of remembrance easy, remember the Father sometimes in the form of the Father, sometimes in the form of the Teacher and sometimes in the form of the Satguru.
Question: What must you now beat the drums about throughout the whole world?
Answer: You now have to beat the drums saying that the Creator of the land of happiness (heaven) has Himself come to teach you Raja Yoga. He has come with heaven on the palm of His hand for you children. Therefore, study Raja Yoga. The Father Himself says: Children, you have now completed your 84 births and you have to return home with Me. Therefore, renounce body consciousness and become bodiless. Imbibe divine virtues and you will go to the divine world.
Song: Who has come to the door of my mind with the sound of ankle-bells? 

Om shanti. You sweetest children heard the song whose remembrance has come to your mind. It is in the intellects of all of you that the one Father is the Purifier. In English, He is called the Liberator ; He liberates you from sorrow. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. This is not the name of any human being or deity. This is the praise of the Purifier Father alone. God, the Father, is called the Purifier and the Bestower of Salvation. This cannot be the praise of human beings. Neither Lakshmi and Narayan nor Brahma, Vishnu and Shankar can be called the Purifier. The Purifier, the Highest on High, is only the one Supreme Father, the Supreme Soul. His name is elevated and His place of residence is also elevated. You have the faith that that One is your Baba. Shiva alone is called Baba. Shiva is incorporeal. The images of Shiva and Shankar are distinct from one another. That One (Shiva) is the Father, Teacher and Satguru. Today is Thursday, the day of the Satguru. For you, every day is the day of the Satguru. The Satguru teaches you every day and you should have the faith that He is also your Father. He cannot be called omnipresent. It is in your intellects that the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you Raja Yoga. He is the Ocean of Knowledge. You should have this faith in your intellects. It is only the one Father whom you can remember in any form. Your intellects go up above to the incorporeal One. He is not a subtle or corporeal being. Souls now need the Supreme Father, the Supreme Soul, but they don’t know Him. You sing that He is the Ocean of Knowledge. The Ocean of Knowledge means the One who grants salvation by giving you knowledge. Lakshmi and Narayan do not have this knowledge. Knowledge is that which is received from the Ocean of Knowledge and this is why the scriptures too don’t have any knowledge. Only the Ocean of Knowledge is called the Seed of the human world tree. The Father is the Creator. He is the unlimited Father whereas all others are limited fathers. Everyone now remembers the unlimited Father who is the Father of all fathers, the Husband of all husbands and the Guru of all gurus. Everyone remembers Him and makes spiritual endeavour to attain Him. Nowadays, they place a Shivalingam in front of the images of Rama and Shankar. He is the incorporeal Highest on High; He liberates everyone. All souls are now impure. When it was the kingdom of the original, eternal deities 5000 years ago, there was just the one kingdom, the land of happiness. There was everything – purity, peace and happiness. That is called swarg, heavenHeaven cannot be called the subtle region or the incorporeal world. In contrast to heaven, there is hell. You have to keep this in your intellects. Only remember the one unlimited Father. You receive your inheritance of heaven from Him. The Satguru teaches you Raja Yoga and takes you to the pure world. There is so much praise of just the One. Lakshmi and Narayan cannot be praised in this way. There is just the one incorporeal Father. Souls too are incorporeal when they are separate from bodies. The Father says: You play your parts by adopting bodies. You also know for how many births you play your parts. There is the costume of this Brahma and also the costume in the subtle region. He has a body. It would be said that he too has a soul. Brahma, Vishnu and Shankar also have subtle bodies. I am called the Incorporeal. It has been explained to you children that you should tell everyone: You have two fathers and your father also has two fathers. Everyone remembers that unlimited Father. There are many physical fathers, but only one unlimited Father. If you forget the Father, then remember the Teacher and if you forget the Teacher, then remember the Satguru. The Father explains that Bharat is now impure. At first, it was pure; so where did all the other souls reside at that time? In the land of liberation, in the land beyond sound. When people become old, they seek refuge with their guru to enable them to reach the land of nirvana, beyond sound. However, they (the gurus) cannot enable them to reach there. The tree has to grow. The main part is Bharat’s. In that too, those who belong to the original eternal deity religion take 84 births. Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time, and so that has to be taken into account. ‘A long time’ means those who come to play their parts in this world at the beginning. They are the ones who truly take 84 births. It can only be said to be a cycle of 84, not a cycle of 8.4 million. The cycle of 84 has been explained to you children; you didn’t know it previously. If you ask this one, this one’s soul also knows. The secret of two souls has also been explained to you. A second soul can enter one being. There can also be interference by an impure soul. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, can also come. He says: If I, the Incorporeal, didn’t come here, how could I teach you Raja Yoga? I alone am called the Ocean of Knowledge. Human beings would not establish heaven. The Father alone is called Heavenly God, the Father. There is the kingdom of Paradise. There isn’t just one. Shri Krishna is the number one satopradhan prince. Only those who are satopradhan are said to be great souls. When someone is single, he or she is called a kumar or kumari. A kumari is given a lot of respect. When she becomes engaged, then, even though she remains pure, she is still part of a couple and her title of kumari changes. Then they become a mother and father. They will be called mother and father when they have children. After marriage, it would be said that they are a mother and father, and so it is understood that they would also have children. They wouldn’t then be called a kumar and kumari. You children know that the land of Krishna is now being established. There is just the one deity religion there. Each religion has its own scripture. They say: This is the religious scripture of so-and-so. We belong to such-and-such a religion, such-and-such a sect. Souls have to come and play their own parts. Ask anyone when Guru Nanak will come again, and they will reply that he has merged into the light. So, does that mean he is not going to come again? How would the world cycle repeat? After the Guru Nanak soul comes, the souls of the Sikh religion continue to follow him down. Look how many of them there are now! This will repeat. Tell us when he will come again. They won’t be able to tell you. You would say that this is a cycle of 5000 years. It is 500 years since Guru Nanak existed. He will then come and establish the Sikh religion again after 4,500 years. We are establishing the original, eternal deity religion. Then others will come and establish their religions, numberwise. Some children say: Not all of this sits in our intellects. OK, a little of this knowledge sits in your intellects, does it not? The God of the devotees is the one Father. It is said: Sinful soul and charitable soul. No one else can be called Supreme Soul. It isn’t that a soul will go and become the Supreme Soul. They give the example of a bubble merging into an ocean. Some would say that the soul went to nirvana, the land beyond, as they have said about Buddha. Some then say that the soul merged into the light. So, who is right? It is right to say that the soul went to the land beyond, to nirvana. Souls are incorporeal and they reside in the incorporeal world. In the subtle region, they have ‘movie . That is like the language of that place which you are able to understand when you go there. They understand it there and then bring directions here. These are wonderfulthings. There are the three: m ovietalkie and silence. At first they had movie (silent) films, but there was not that much enjoyment in them and so they invented ‘talkie  films. In the subtle region, there are just Brahma, Vishnu and Shankar. It is explained that the Highest on High is the Supreme Father, the Supreme Soul, who resides in the world of silence. We souls also reside there. The Purifier is only the one Satguru. He alone is the Bestower of Salvation for all. Even though they might call themselves gurus, rishis or great souls, they are still devotees. They don’t know the One who makes them pure. It is said that God removes everyone from the graveyard and takes them back. You can see that that is the same great Mahabharat War. You are studying Raja Yoga for the golden age. The gates to the golden age will open after destruction. The Father has explained: At this time, you are studying Raja Yoga with the Father. You are claiming your kingdom with the power of yoga. This is nonviolence. No one knows what nonviolence is. The sword of lust must not be used. That too is violence. Non-violence is the supreme religion of the deities. It is because of the vices that you received sorrow from their beginning through the middle to the end. There, it is the viceless world and, due to that, there is no sorrow from its beginning through the middle to the end. That is the land of immortality whereas this is the land of death. They sit and relate stories in the land of death in order to go to the land of immortality. The Father says: I am Trikaldarshi. I also make you trikaldarshi and trinetri, that is, I make you into those who know the three worlds and the three aspects of time. This is God’s praise. I make you children the same as Myself and take you back with Me. You children of the Ocean of Knowledge also become master oceans of knowledge. The Father says: I am the Seed of the human world tree. I am the Living Being and knowledgefull. Yes, we can understand how a tree emerges from its seed and how the fruit then emerges. This is the tree of the human world. Baba says: I know the beginning, middle and end of this inverted tree and the world cycle. People say: God is the Truth, the Living Being, the Ocean of Bliss and the Ocean of Happiness. Therefore, you should surely receive the inheritance from Him. You are claiming your inheritance from Me, your Father. You will become pure for 21 births. I am ever pure. You have to play your parts. At this time, it is the stage of ascent of you alone. You become master oceans of knowledge. Then, from the golden age, your degrees begin to decrease. You have to ascend and then descend. You children are now claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father. You are doing a lot of service. The Father is the Purifier. You are the Shiv Shakti Pandava Army. You are helping to make the impure world pure. “Salutations to the mothers” is said to you alone. Salutations are never said to those who are impure. The Father comes and makes incognito service take place through the Shakti Army. You are those who are doubly non-violent. You claim the kingdom, but you don’t have weapons etc. You remain pure. All of those are doubly violent. One is that they indulge in vice and cause sorrow for one another with the sword of lust and the other is that they continue to fight and quarrel among themselves. Nowadays, so many mountains of sorrow fall. People have so much anger in them; they slap themselves. They continue to defame everyone. This too is fixed in the drama. Everyone has to fall. It is now the stage of ascent for you. Beat the drums that God, the Creator of Heaven, who teaches you Raja Yoga, has come. He has brought heaven on the palm of His hand. We do not call Krishna God; he is a human being with divine virtues. Brahma, Vishnu and Shankar are called (subtle) deities. They cannot be called human beings with divine virtues. Golden-aged human beings have divine virtues and iron-aged human beings have devilish traits. It is human beings who become those with divine virtues and those with devilish traits. So, the Father sits here and explains: Why do you forget your Father? Repeatedly remember Me. Your 84 births are now coming to an end. I have now come to teach you Raja Yoga. In spite of that, you repeatedly forget Me. Renounce body consciousness and consider yourself to be bodiless. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become trikaldarshi, trinetri and trilokinath, the same as the Father. Make yourself a master of the Father’s praise.
  2. Become doubly non-violent. Don’t become influenced by any vice and thereby commit violence. Become a helper of the Father and serve to make everyone pure.
Blessing: May you be a yogi soul who, with your spiritual attraction, takes service and your service centre into the ascending stage.
The spiritual attraction of yogi souls who maintain their spirituality automatically takes their service and their service centre into the ascending stage. By being yogyukt you invoke souls with your spirituality and the number of students automatically increase. For this, always keep your mind light and do not let there be any type of burden. When your heart is clean, your desires will continue to be fulfilled and all attainments will automatically come in front of you. This is your right.
Slogan: A soul with Godly knowledge is one who is free from all ties and attractions.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 September 2018

To Read Murli 26 September 2018 :- Click Here
27-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – याद के अभ्यास को सहज बनाने के लिए बाप को कभी बाप रूप में, कभी टीचर रूप में तो कभी सतगुरू रूप में याद करो”
प्रश्नः- तुम बच्चों को अभी सारे विश्व में कौन-सा ढिंढोरा पिटवाना है?
उत्तर:- अब ढिंढोरा पिटवाओ कि सुख की दुनिया (स्वर्ग) का रचयिता स्वयं राजयोग सिखलाने आया हुआ है। वो बच्चों के लिए हथेली पर बहिश्त लेकर आया है इसलिए राजयोग सीखो। बाप स्वयं कहते हैं – बच्चे, अब तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए हैं, तुम्हें मेरे साथ घर चलना है इसलिए देह का भान छोड़ अशरीरी बनो। दैवीगुण धारण करो तो दैवी दुनिया में चले जायेंगे।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे……. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना कि अभी हमारी बुद्धि में किसकी याद आई है? सबकी बुद्धि में है कि पतित-पावन एक बाप है। अंग्रेजी में उनको लिबरेटर कहते हैं। लिबरेट करते हैं दु:ख से। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है, यह कोई मनुष्य वा देवता का नाम नहीं है। यह है ही एक पतित-पावन बाप की महिमा। पतित-पावन, सद्गति दाता गॉड फादर को कहते हैं। मनुष्य की यह महिमा हो न सके। लक्ष्मी-नारायण को, ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को पतित-पावन नहीं कह सकते। पतित-पावन ऊंच ते ऊंच एक ही है। परमपिता परमात्मा ऊंचा उनका नाम भी है तो ऊंचा उनका ठांव (रहने का स्थान) भी है। तुमको निश्चय है कि यह हमारा बाबा है। शिव को ही बाबा कहते हैं, शिव ही निराकार है। शिव का चित्र अलग, शंकर का चित्र अलग है। वह (शिव) बाप, शिक्षक, सतगुरू है। आज सतगुरूवार है। तुम्हारा तो सतगुरूवार रोज़ है। सतगुरू रोज़ तुमको पढ़ाते हैं और वह तुम्हारा बाप भी है, यह तो निश्चय होना चाहिए ना। उनको सर्वव्यापी नहीं कहेंगे। तुम्हारी बुद्धि में है – पतित-पावन परमपिता परमात्मा हमको राजयोग सिखलाते हैं, वह ज्ञान का सागर है। यह तो बुद्धि में निश्चय रहना चाहिए। यह एक ही बाप है, जिसको कोई भी रूप में याद करो। बुद्धि ऊपर निराकार तरफ चली जाती है। कोई आकार वा साकार नहीं है। आत्माओं को परमपिता परमात्मा से अब काम पड़ा है परन्तु जानते नहीं हैं। गाते हैं कि वह ज्ञान का सागर है। तो ज्ञान का सागर माना जो ज्ञान सुनाकर सद्गति करे। लक्ष्मी-नारायण को यह ज्ञान नहीं है। ज्ञान वह जो ज्ञान सागर से मिले, इसलिए शास्त्रों में भी ज्ञान नहीं है। ज्ञान सागर को ही मनुष्य सृष्टि का बीजरूप कहते हैं। बाप क्रियेटर है। वह है बेहद का बाप और सब हैं हद के बाप। अब बेहद के बाप को सब याद करते हैं, जो बापों का बाप, पतियों का पति, गुरूओं का भी गुरू है, सब उनको याद करते हैं, साधना करते हैं। आजकल चित्रों के आगे, राम के आगे, शंकर के आगे लिंग रखते हैं। है निराकार, ऊंच ते ऊंच है, वह लिबरेट करते हैं। अभी तो सब आत्मायें पतित हैं। 5 हजार वर्ष पहले जब आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था तो उस समय एक ही राज्य था, सुखधाम था। पवित्रता, सुख, शान्ति सब थी। उसका नाम ही है स्वर्ग, हेविन। हेविन को सूक्ष्मवतन वा मूलवतन नहीं कहेंगे। हेविन के अगेन्स्ट है हेल। यह बुद्धि में रखना है। एक बेहद के बाप को ही याद करना है, उनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। सतगुरू राजयोग सिखलाते हैं, पावन दुनिया में ले जाते हैं। एक की कितनी महिमा है! लक्ष्मी-नारायण को यह महिमा नहीं दे सकते। एक ही निराकार बाप है। आत्मायें भी निराकार हैं, जब शरीर से अलग हैं। बाप कहते हैं तुम अपना शरीर लेकर पार्ट बजाते हो। तुम कितने जन्म पार्ट बजाते हो – यह भी जानते हो। ब्रह्मा का भी चोला है। सूक्ष्मवतन में भी चोला है। शरीर तो है ना। कहेंगे उनमें भी आत्मा है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी सूक्ष्म शरीर है। मुझे कहते हैं निराकार। बच्चों को समझाया है – कोई को भी बोलो तुमको दो बाप हैं, तुम्हारे बाप को भी दो बाप हैं। सब उस बेहद के बाप को याद करते हैं। लौकिक बाप तो अनेक हैं, यह बेहद का बाप तो एक ही है। बाप भूल जाए तो टीचर याद पड़े, टीचर भूल जाए तो सतगुरू याद पड़े।

बाप समझाते हैं – भारत अभी पतित है। पहले पावन था तो इतनी आत्मायें कहाँ निवास करती होंगी? मुक्तिधाम, वानप्रस्थ अवस्था में अर्थात् वाणी से परे। मनुष्य बूढ़े होते हैं तो वाणी से परे जाने के लिए गुरू की शरण लेते हैं कि हमको निर्वाणधाम पहुँचावें, परन्तु वह पहुँचा नहीं सकते। झाड़ को तो बढ़ना ही है। मुख्य पार्ट है भारत का, उनमें भी जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं वह 84 जन्म लेते हैं। आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल…… तो हिसाब करना चाहिए ना। बहुकाल अर्थात् जो पहले-पहले इस सृष्टि पर पार्ट बजाने आते हैं। बरोबर 84 जन्म उनके ही हैं। 84 का चक्र ही कहते हैं, 84 लाख का चक्र नहीं कहते। तुम बच्चों को 84 का चक्र समझाया गया है, आगे नहीं जानते थे। इनसे पूछेंगे तो इनकी आत्मा भी जानती है ना। दो आत्माओं का राज़ भी समझाया है। दूसरी आत्मा प्रवेश कर सकती है। अशुद्ध आत्मा का भी प्रवेश हो सकता है। तो परमपिता परमात्मा भी आ सकते हैं। बाकी कहते हैं मैं निराकार न आऊं तो राजयोग कैसे सिखलाऊं? मुझे ही ज्ञान सागर कहते हैं, मनुष्य स्वर्ग की स्थापना तो नहीं करेंगे ना। बाप को ही कहा जाता है हेविनली गॉड फादर। वैकुण्ठ की राजधानी है। एक तो नहीं है ना। श्रीकृष्ण है नम्बरवन प्रिन्स, सतोप्रधान। सतोप्रधान को ही महात्मा कहा जाता है। अकेले को कुमार-कुमारी कहा जाता है। कुमारी का मान बहुत होता है। सगाई हो गई फिर भल पवित्र रहते हैं फिर भी युगल तो हो गये ना। फिर कुमारी का नाम बदल जाता है। फिर माता-पिता बन जाते हैं। बच्चा पैदा हुआ तब कहेंगे माता-पिता। शादी के बाद समझेंगे यह मात-पिता हैं, अन्डरस्टुड है कि सन्तान भी होगी। फिर उनको कुमार-कुमारी नहीं कहेंगे।

तुम बच्चे जानते हो अभी कृष्णपुरी स्थापन हो रही है। वहाँ एक ही देवी-देवता धर्म है। बाकी हर एक धर्म का शास्त्र भी अलग-अलग होता है। कहते हैं फलाने का धर्मशास्त्र यह है, हम फलाने धर्म अथवा मठ में जाते हैं। आत्माओं को आकर अपना पार्ट बजाना है। कोई से पूछो – गुरूनानक फिर कब आयेगा? वह तो कह देते ज्योति ज्योत समाया। तो क्या उनको फिर आना नहीं है? सृष्टि चक्र कैसे रिपीट होगा? गुरूनानक की जब सोल आई तो उनके पिछाड़ी सिक्ख धर्म वाले आते जाते हैं। अभी तो देखो कितने हो गये हैं! फिर भी रिपीट करेंगे ना। बताओ फिर कब आयेंगे? तो बता नहीं सकेंगे। तुम कहेंगे यह तो 5 हजार वर्ष का चक्र है। गुरूनानक को 500 वर्ष हुए, फिर 4500 वर्ष के बाद आकर सिक्ख धर्म स्थापन करेंगे। हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। फिर और भी नम्बरवार आकर धर्म स्थापन करेंगे। कोई-कोई बच्चे कहते हैं हमारी बुद्धि में इतना नहीं बैठता है। अच्छा, थोड़ी बात तो बैठती है ना। भक्तों का भगवान् बाप एक ठहरा। कहा भी जाता है पाप आत्मा, पुण्य आत्मा। परमात्मा तो किसको कहा नहीं जाता। ऐसे नहीं, आत्मा जाकर परमात्मा बनेगी। जैसे मिसाल देते हैं – बुदबुदा सागर में लीन हो जायेगा। कोई कहेंगे पार निर्वाण गया। जैसे बुद्ध के लिए कहते हैं। कोई फिर कहते ज्योति ज्योत समाया। अब राइट कौन? पार निर्वाण तो ठीक है। आत्मा भी निराकार है। निराकारी दुनिया में रहती है। सूक्ष्मवतन में है मूवी। वह भी जैसे वहाँ की एक भाषा है, जो वहाँ वह समझते हैं, समझ कर डायरेक्शन ले आते हैं। यह भी वन्डरफुल बात है ना। मूवी, टॉकी और साइलेन्स – तीन हैं। पहले मूवी के बाइसकोप भी थे फिर उनसे किसको मजा नहीं आया तो टॉकी कर दिया। सूक्ष्मवतन में सिर्फ ब्रह्मा, विष्णु, शंकर हैं। समझाया जाता है ऊंच ते ऊंच है परमपिता परमात्मा, जो साइलेन्स वर्ल्ड में रहते हैं। हम आत्मायें भी वहाँ रहती हैं। पतित-पावन एक ही सतगुरू है। सर्व का सद्गति दाता वही है। बाकी भल कोई अपने को गुरू कहलाये, ऋषि कहलाये, महात्मा कहलाये परन्तु हैं सब भक्त। पावन बनाने वाले को जानते ही नहीं।

कहते हैं परमात्मा सबको कब्र से निकाल ले जाते हैं। देखते भी हो यह वही महाभारी महाभारत लड़ाई है। तुम सतयुग के लिए राजयोग सीख रहे हो। विनाश के बाद फिर सतयुग के गेट खुलते हैं। बाप ने समझाया है इस समय तुम बाप से राजयोग सीखते हो। तुम योगबल से राज्य लेते हो। यह है नानवायोलेन्स। कोई भी यह नहीं जानते हैं कि नानवायोलेन्स किसको कहा जाता है। काम कटारी भी नहीं चलानी है। यह भी हिंसा है। अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म था। विकारों के कारण ही तुमने आदि, मध्य, अन्त दु:ख पाया है। वहाँ है ही निर्विकारी दुनिया, जिस कारण आदि, मध्य, अन्त दु:ख नहीं होता है। वह है अमरलोक, यह है मृत्युलोक। मृत्युलोक में बैठ कथा सुनाते हैं अमरलोक में जाने लिए। बाप कहते हैं मैं त्रिकालदर्शी हूँ। तुमको भी त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री बनाता हूँ अर्थात् तीनों लोकों, तीनों कालों को जानने वाले। यह भगवान् की महिमा है। तुम बच्चों को आप समान बनाकर साथ ले जाते हैं। ज्ञान सागर के बच्चे तुम भी मास्टर ज्ञान सागर बन जाते हो। बाप कहते हैं मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप, चैतन्य, नॉलेजफुल हूँ। हाँ, हम जान सकते हैं बीज से ऐसे झाड़ निकलता है फिर फल निकलता है। अब यह है मनुष्य सृष्टि का झाड़। बाबा कहते हैं मैं इस उल्टे झाड़ के आदि, मध्य, अन्त को, सृष्टि चक्र को जानता हूँ। मनुष्य कहते भी हैं परमात्मा सत है, चैतन्य है, आनन्द का सागर है, सुख का सागर है, तो उनसे जरूर वर्सा मिलना चाहिए। तुम मुझ अपने बाप से वर्सा ले रहे हो। तुम 21 जन्मों के लिए पावन बन जायेंगे। मैं एवर पावन हूँ। तुमको तो पार्ट बजाना है। इस समय सिर्फ तुम्हारी चढ़ती कला है। तुम मास्टर ज्ञान सागर बन जाते हो। फिर सतयुग से लेकर तुम्हारी कलायें कमती होती जायेंगी। चढ़कर फिर उतरना ही है। अभी तुम बच्चे बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेते हो। बहुत सर्विस करते हो। बाप है पतित-पावन। तुम शिव शक्ति, पाण्डव सेना हो। पतित दुनिया को पावन दुनिया बनाने में मदद करते हो। तुमको ही वन्दे मातरम् कहते हैं। पतित को कभी वन्दे मातरम् नहीं कहेंगे। बाप आकर शक्ति-दल द्वारा गुप्त सर्विस कराते हैं। तुम डबल अहिंसा वाले हो, राज्य लेते हो परन्तु कोई हथियार आदि नहीं हैं। पवित्र रहते हो। वह सब हैं डबल हिंसक। एक तो विकार में जाते हैं, काम-कटारी से एक दो को दु:ख देते हैं और फिर आपस में लड़ते-झगड़ते भी रहते हैं। आजकल कितने दु:ख के पहाड़ गिरते हैं। मनुष्यों में क्रोध कितना भारी है। अपने आपको आपेही चमाट मारते हैं। सबकी ग्लानी करते रहते हैं। यह भी ड्रामा में नूँध हैं। सबको गिरना ही है। अभी तुम्हारी है चढ़ती कला। तुम ढिंढोरा पिटवाओ कि स्वर्ग का रचयिता राजयोग सिखलाने वाला वह भगवान् आया हुआ है। वह हथेली पर बहिश्त ले आया है। कृष्ण को हम भगवान् नहीं कहेंगे। वह दैवी गुणों वाला मनुष्य है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को देवता कहेंगे, उनको दैवी गुण वाले मनुष्य नहीं कहेंगे। दैवीगुण सतयुगी मनुष्यों में हैं, आसुरी गुण कलियुगी मनुष्यों में हैं। दैवी गुणवान और आसुरी गुणवान मनुष्य ही बनते हैं। तो बाप बैठ समझाते हैं – तुम बाप को क्यों भूलते हो? घड़ी-घड़ी मुझे याद करो। तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए, अब मैं तुमको राजयोग सिखलाने आया हूँ। फिर भी तुम घड़ी-घड़ी भूल जाते हो। देह-अभिमान छोड़ अपने को अशरीरी समझो। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री, त्रिलोकीनाथ बनना है। बाप की महिमा में स्वयं को मास्टर बनाना है।

2) डबल अहिंसक बनना है। किसी भी विकार के वशीभूत हो हिंसा नहीं करनी है। बाप का मददगार बन सबको पावन बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- रूहानी आकर्षण द्वारा सेवा और सेवाकेन्द्र को चढ़ती कला में ले जाने वाले योगी तू आत्मा भव
जो योगी तू आत्मायें रूहानियत में रहती हैं, उनकी रूहानी आकर्षण सेवा और सेवाकेन्द्र को स्वत: चढ़ती कला में ले जाती है। योगयुक्त हो रूहानियत से आत्माओं का आह्वान करने से जिज्ञासु स्वत: बढ़ते हैं। इसके लिए मन सदा हल्का रखो, किसी भी प्रकार का बोझ नहीं रहे। दिल साफ मुराद हांसिल करते रहो, तो प्राप्तियां आपके सामने स्वत: आयेंगी। अधिकार ही आप लोगों का है।
स्लोगन:- परमात्म ज्ञानी वह है जो सर्व बन्धनों एवं आकर्षणों से मुक्त है।

TODAY MURLI 27 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 26 September 2017 :- Click Here

27/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, imbibe the Father’s teachings and become virtuous flowers. You have received the enlightenment of knowledge. Therefore, remain constantly cheerful.
Question: What deep and entertaining things about you children do people become confused about when they hear them?
Answer: 1) You say: We are now decorations of the Brahmin clan, spinners of the discus of self-realisation. We are those who blow the conch shell of knowledge. We are trinetri and trikaldarshi. All the ornaments given to the deities actually belong to us. When people hear these things, they become confused. 2) You say: The knowledge that the Father gives us through this one’s mouth is the blowing of the conch shell. It is through this that we are becoming deities from human beings. This is called the murli; it is not a wooden flute. These are very deep and entertaining things that people find difficult to understand.
Song: This is the Spring to forget the world.

Om shanti. Sweetest, Godly children know that this is the most elevated Spring season for us. All the flowers etc. bloom in Spring. This is the unlimited Spring season. You are being showered with the rain of knowledge. So, from dried thorns you are becoming flowers. Only you know this, numberwise, according to the effort you make. Some remain very happy that they are becoming flowers from thorns with the rain of knowledge. When a tree becomes completely dry, not a single leaf remains. This happens every year. Then, in the rainy season, there are beautiful leaves and flowers. Therefore, this Spring season of the rain of knowledge is first class. This is now the world of thorns. The tree says: I have become a tree of thorns and then, with the rain of knowledge, I become a tree of flowers. Each one of you is a living tree. You have now received the enlightenment of knowledge with which you claim a high status. Look what you become from what you were! You know that you are now becoming pure from impure. Vishnu is the dual-form. A vision is also given of the form of a couple. They have shown Vishnu with four arms, but he doesn’t have any knowledge. The two forms come together and perform a dance. The Father explains: When it is Diwali, Mahalakshmi (four-armed Lakshmi) comes. You invoke both of them. Lakshmi is in the front and Narayan is behind her. Lakshmi has two arms and Mahalakshmi has four arms. It is now that you know these things. Previously, you didn’t know them at all. You were completely like thorns and are now becoming flowers. It is mentioned in the Granth that it didn’t take God long to change human beings into deities. Deities exist in the golden age. They have divine virtues. Human beings at this time have devilish qualities whereas you have Godly virtues. God sits here and makes you virtuous. Through Baba’s teachings, we are becoming full of all virtues. There is praise of Bharat; that is, there is a lot of praise sung of the people who live in Bharat but they don’t know who it was that made them like they are. They build big temples but they don’t know the occupation of those they build the temples to. You have now become greatly enlightened. You have to remain very cheerful. There, you will remain cheerful for 21 births. You know that you are studying this study to claim your status for 21 births. You earn an income by studying knowledge. This is your God f atherly student life. You become the masters of the sun-dynasty clan, that is, you become the masters of heaven. Even in the pure world, not everyone claims an equal status. It isn’t just one Lakshmi and Narayan who rule the kingdom. No one knows that there will just be the dynasty and also the kingdom. There were those of the sun and moon dynasties. Shiv Baba established the new world. There is darkness in the intellects of the people of the world. You have light. There is the pure world and the impure world. There is a numberwise status in the pure world. The status of the subjects will also be numberwise. There, everyone has nothing but happiness. Each one has his own kingdom and his own land. In the impure world, all are impure, but it is numberwise. For instance, in the golden age, the highest-on-high dynasty is that of Lakshmi and Narayan. Princess Radhe and Prince Krishna became Lakshmi and Narayan after their marriage. It would be called the dynasty of Lakshmi and Narayan. It wouldn’t be called the dynasty of Radhe and Krishna. It is the name of the king that is mentioned. No one knows even such a small thing. All of you know it, numberwise. In a kingdom, status is numberwise. There is a vast difference between the sun-dynasty kingdom and those subjects who become cremators. It is numberwise even in the impure world. The Father is now explaining the philosophy of action, neutral action and sinful action to you. The Father says: Children, follow My shrimat! There are many children whom Baba has never even seen. They are doing very good service among themselves. They continue to give the Father’s introduction. They even manage to run a centre without an appointed Brahmin teacher. They haven’t even met the Father personally and yet they carry out service and make others equal to themselves. Those who are personally in front of Baba don’t do as much service. You have to teach the spiritual pilgrimage. You are spiritual guides. You also show the path. O souls, remember the Father. It is said that souls remained separated from the Father for a long period of time. There is that account too. They prove the long period of time. You are the ones who have been separated for the maximum time. You belonged to the sun and moon dynasties. You have taken 84 births in the cycle of rebirth; it cannot be 84 births for everyone. You children remain under the shower of this knowledge. This is your student life. Some take up another course while looking after their home and families. Here, it is just a question of purity. You just have to remember the Father and your inheritance and also study. You definitely do have to become pure. It is said that the milk of a lioness can only be contained in a golden vessel. The Father also says that, without purity, you cannot imbibe knowledge. That is why Baba says: Conquer this great enemy of lust. Become pure! Recognise Me because only then can I open the locks on your intellects. Until you become pure and decorations of the Brahmin clan, you won’t imbibe anything. You decorations of the Brahmin clan are spinners of the discus of self-realisation. No one else can understand this. People think that the deities were spinners of the discus of self-realisation. They ask: Who are these people who say that they are the decorations of the Brahmin clan and spinners of the discus of self-realisation? Only you children understand these things. These are very deep and entertaining things. You blow the conch shell of knowledge. Deities didn’t do that. They became deities by having heard Shiv Baba blow the conch shell. Shiv Baba is knowledge-full, but how could you give Him the conch shell? He would definitely give you knowledge through someone’s mouth. The things He speaks is called the murli. It isn’t a wooden flute. The murli of knowledge is being played now. People think that worshipping, devotion etc. have continued from time immemorial. However, nothing can continue from time immemorial. They say that Raksha Bandhan etc. have continued from the beginning of time. OK, “From the beginning of time,” means when? Tell us that at least! Did God create an impure world? So, why do you call Him the Purifier? Points from the study should enter your intellects every day. You also have to practise opening your mouth (speaking this knowledge). You can explain to many others. You have to create methods for your own progress. Just as Baba shows everyone the path, so we then have to show it to everyone. Only then will we claim our inheritance from the Father. However, we won’t be able to claim our inheritance by making a lot of noise. The Father feels a lot of mercy. He explains so much, but it is not in the fortune of some children. You are receiving so many jewels. There is a lot of expansion of the jewels. There is a lot of difference between jewels. Some are valued at one hundred thousand rupees and some at one rupee. These are the imperishable jewels of knowledge, which you imbibe and then inspire others to imbibe, and you thereby claim a high status. Only jewels should constantly emerge from the mouths of you children. Even if your intellects understand these things, but you don’t speak about them, what would their value be? Those who make effort and make others equal to themselves will also receive a lot of fruit. To do this service and teach others is not a small service. Your intellects have now received enlightenment. Who is the wealthiest of all? They would mention 10 or 12 names. You know who the main ones are in this drama. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva is the Creator, Director and Principal Actor. The Highest on High is Shiv Baba and then there are the residents of the subtle region and the corporeal world. You know these things at this time. The duration of the cycle is not hundreds of thousands of years. The duration of the cycle is only 5000 years. People are in so much darkness! You have now come away from the darkness of ignorance into so much light. Some have come into the light whereas others are still lying in the darkness. Everything here is a question of the intellect. Those who have unlimited intellects quickly understand. A soul is like a star. Something big would not be able to stay in the centre of the forehead. It must definitely be something that can’t be seen with these eyes. If it were a big thing, it could be seen. A soul is extremely subtle, like a point. These are the deepest things. In the beginning, you were told that a soul is the element of light. If you had been told in the beginning that it is like a star, you wouldn’t have been able to understand. He would not give you all the knowledge in just one day. Day by day, the Father tells you very deep things. You receive a lot of wealth from the Ocean of Knowledge. For as long as you live, you have to continue to drink the nectar of knowledge. It is not a question of water. The Ganges of knowledge emerge from the Ocean of Knowledge. That is an ocean of water. They say that the Ganges is eternal. That bathing in water has continued. You used to see how, when daughters went into trance, they would dance by the Rivers Ganges and Jamuna. Here, you are afraid that you may drown. There is no question of drowning etc. there. There cannot be accidents there. Therefore, this is the Spring season when you become diamonds from shells and pure from impure. When the pure world is created, the impure world will definitely have been destroyed. They haven’t completely shown everything in the Mahabharata. They have shown that the Pandavas went onto the mountains and melted there, that they had a dog with them. Did the Pandavas also keep dogs as pets? You don’t keep dogs as pets. People give so much respect to dogs. Many people have dogs as pets. The Father is explaining to you children that you have to remain very cheerful. You are being showered with knowledge daily. You know how Baba comes and showers you with knowledge. He only comes in Bharat. This is why there is great praise of Bharat. Bharat is the imperishable land. Bharat is the birthplace of the eternal Father. No one knows Shiv Baba who purifies everyone. They say that God is beyond name and form and is omnipresent. They have spoken about so many different things. The Father says: I come. I definitely have to create Brahmins. People say that they are the children of Brahma and that is why they are called Brahmins. However, people have forgotten what Shiv Baba did when He came and how He created the mouth-born creation of Brahma. Since you know that Shiv Baba came and that He is the Creator, He must definitely have created a new creation. No one knows this. Because of not knowing this, they continue to insult Him. Therefore, the Father says: I come when there is extreme irreligiousness. Who said this? Krishna did not say this. It is at this time the Krishna soul knows that he takes 84 births. Those who pass and are transferred take birth first. Your intellects have been enlightened so much. When someone has an eye operation, they remove one eye and replace it with another and then the blind person is able to see. Some are left with defects. Baba has come to give you souls the eyes of knowledge that have now finished. Your eyes of knowledge are now opening. The third eye is one of knowledge. They have shown deities with a third eye. All the ornaments, such as the discus etc., have been given to Vishnu. In fact, the third eye is that of you Brahmins. You are the most elevated decoration of the Brahmin clan. There are the deity clan and the devilish clan. Whether you call it a clan or a caste, it is the same thing. There is only one knowledge. These are such good things but they are not mentioned in any of the scriptures. You have now become trikaldarshi, trinetri and swadarshanchakradhari. You are those who make effort to remain as pure as a lotus. You know that the eyes of some have opened very well and that the eyes of others continue to open now. Eventually, they will open 100%. The jewels of knowledge will continue to emerge from your mouths. It will only be then that you will be called rup and basant. You now have to make effort. You should make effort and, as much as possible, become very cheerful, mature, have broad intellects in knowledge and continue to experience happiness. You are receiving the inheritance of heaven, and so what else do you want? You should celebrate with so much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay constantly under the shower of knowledge. Become a spiritual guide and show everyone the path. Only let jewels of knowledge emerge from your mouth.
  2. Churn the ocean of knowledge, remain constantly cheerful and mature with a broad intellect and experience happiness and enable others to do the same.
Blessing: May you be double light and become free from all attractions by transforming mine into “Yours”.
While serving your worldly relationships them, always have the awareness that they are not your relations, but that they are all the Father’s children. The Father has made you an instrument to serve them. You are not living at home, but at a service place. All of “mine” has become “Yours”. Even this body is not mine. There is attraction to that which is “mine”. When “mine” is finished, then nothing can pull your mind or intellect to itself. Only those who transform “mine” into “Yours” in Brahmin life can remain double light.
Slogan: In order to become “obstacle-proof”, accumulate the treasure of blessings.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 25 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 26 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 27/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
27/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – बाप की शिक्षाओं को धारण कर तुम्हें गुणवान फूल बनना है, तुम्हें ज्ञान की रोशनी मिली है, इसलिए सदा हर्षित रहना है
प्रश्नः- तुम बच्चों की कौन सी गुह्य रमणीक बातें हैं जो मनुष्य सुनकर मूँझते हैं?
उत्तर:- तुम कहते हो – अभी हम ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी हैं। हम ज्ञान की शंखध्वनि करने वाले हैं। हम त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी हैं। यह देवताओं को जो अलंकार देते हैं, वह सब हमारे हैं। यह बातें सुनकर मनुष्य मूंझते हैं। 2-तुम कहते हो – बाप मुख से जो नॉलेज देते हैं – यह शंखध्वनि है। इससे हम मनुष्य से देवता बनते हैं। इसी को ही मुरली कहा जाता है। काठ की मुरली नहीं है। यह भी बहुत गुह्य रमणीक बातें हैं, जिसे समझने में मनुष्यों को मुश्किल लगता है।
गीत:- यही बहार है…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे ईश्वरीय सन्तान जानते हैं कि हमारे लिए सबसे ऊंची बहार की यह मौसम है। बहारी मौसम में फूल आदि सब खिल जाते हैं। यह है बेहद के बहार की मौसम। तुम पर ज्ञान की बरसात होती है। तो सूखे कांटे से तुम फूल बन जाते हो। यह भी तुम ही जानो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। कोई तो बहुत खुशी में रहते हैं कि हम इस ज्ञान वर्सा से कांटे से फूल बनते हैं। झाड जब एकदम सूख जाता है तो एक भी पत्ता नहीं रहता है। हर वर्ष यह हाल होता है फिर बरसात में पत्ते भी सुन्दर, फूल भी बड़े सुन्दर हो जाते हैं। तो यह ज्ञान बरसात की बहारी मौसम फर्स्टक्लास है। अब यह है कांटों की दुनिया। झाड कहता है – मैं कांटों का झाड बन गया हूँ फिर ज्ञान बरसात से फूलों का झाड बनता हूँ। तुम एक-एक चैतन्य झाड हो ना। अभी तुमको ज्ञान की रोशनी मिली है, जिससे तुम ऊंच पद पाते हो। तुम क्या से क्या बनते हो। तुम जानते हो अभी हम अपवित्र से पवित्र बनते हैं। विष्णु भी युगल रूप है ना। साक्षात्कार जोड़ी रूप का होता है। विष्णु को 4 भुजायें दिखाते हैं ना। परन्तु उनको ज्ञान तो कुछ भी है नहीं। दो रूप मिलकर डांस करते हैं। बाप समझाते हैं – दीवाली होती है तो महालक्ष्मी आती है। तुम दोनों को बुलाते हो। आगे लक्ष्मी पीछे नारायण होता है। लक्ष्मी दो भुजा वाली होती है। महालक्ष्मी 4 भुजा वाली होती है। परन्तु यह बातें अभी तुम जानते हो – आगे बिल्कुल ही नहीं जानते थे। एकदम कांटे थे सो अब फूल बन रहे हैं। ग्रंथ में भी कहा है – मनुष्य से देवता किये,…देवतायें होते हैं सतयुग में। वह हैं दैवीगुणों वाले। इस समय के मनुष्य हैं आसुरी गुण वाले, तुम हो ईश्वरीय गुण वाले। ईश्वर बैठ हमको गुणवान बनाते हैं। बाबा की शिक्षा से हम सर्वगुण सम्पन्न… बनते हैं। भारत की महिमा है अर्थात् भारत में रहने वालों की बड़ी महिमा गाते हैं। परन्तु उनको यह पता नहीं कि उन्हों को ऐसा बनाने वाला कौन है? बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं परन्तु उनके आक्यूपेशन का पता नहीं है। तुमको तो बहुत रोशनी मिली है। तुमको बहुत हर्षित रहना है। वहाँ भी 21 जन्मों के लिए हर्षित रहेंगे। तुम जानते हो हम 21 जन्मों का पद लेने के लिए पढ़ाई पढ़ते हैं। कमाई नॉलेज से होती है। गॉड फादरली स्टूडेन्ट लाइफ है। सूर्यवंशी घराने के मालिक बनते हैं। गोया स्वर्ग के मालिक बनते हैं। पावन दुनिया में भी सब एक जैसा पद तो नहीं लेते। सिर्फ एक लक्ष्मी-नारायण तो राज्य नहीं करते हैं ना। यह भी किसको पता नहीं है, सिर्फ डिनायस्टी होगी और राजाई भी होगी। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी थे। शिवबाबा ने नई दुनिया स्थापन की है। दुनिया वालों की बुद्धि में तो अन्धियारा है। तुम्हारे पास तो रोशनी है। पतित दुनिया और पावन दुनिया है। पावन दुनिया में भी नम्बरवार मर्तबे हैं। प्रजा में भी होंगे। वहाँ तो सबको सुख ही सुख है। हर एक की अपनी-अपनी राजाई, जमीदारी आदि होती है। पतित दुनिया में सब पतित हैं परन्तु उनमें भी नम्बरवार हैं। जैसे सतयुग में ऊंच ते ऊंच डिनायस्टी है लक्ष्मी-नारायण की। राधे कृष्ण प्रिन्स प्रिन्सेज स्वयंवर बाद लक्ष्मी-नारायण बने हैं। लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी कहेंगे। राधे-कृष्ण की डिनायस्टी नहीं कहेंगे। राजाओं का नाम लिया जाता है। थोड़ी सी भी बात कोई नहीं जानते। तुम सब जानते हो सो भी नम्बरवार, राजधानी में तो नम्बरवार पद होते हैं ना। कहाँ सूर्यवंशी राजाई फिर कहाँ प्रजा में भी चण्डाल आदि जाकर बनते हैं। पतित दुनिया में भी नम्बरवार होते हैं।

अब बाप तुमको कर्म-अकर्म-विकर्म की गति समझा रहे हैं। बाप कहते हैं बच्चे श्रीमत पर चलो। बहुत बच्चे हैं जिनको बाबा ने कभी देखा भी नहीं है। आपस में बहुत अच्छी सर्विस कर रहे हैं। बाप का परिचय देते रहते हैं। सिवाए ब्राह्मणी मुकरर किये बिना भी सेन्टर चला रहे हैं। सन्मुख मिले भी नहीं है – फिर भी सर्विस कर आप समान बना रहे हैं। सम्मुख रहने वाले इतनी सर्विस नहीं करते। रूहानी यात्रा सिखाना है ना। तुम हो रूहानी पण्डे। तुम भी रास्ता बताते हो। हे आत्मायें बाप को याद करो। कहते भी हैं आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल…वह भी हिसाब है ना। बहुतकाल सिद्ध करके बताते हो ना। तुम ही सबसे जास्ती बहुकाल से बिछुड़े हुए हो। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी घराने के थे फिर पुनर्जन्म के चक्र में आते 84 जन्म लगे हैं। सो भी सबके 84 जन्म नहीं हो सकते। इस ज्ञान की रिमझिम में तुम बच्चे रहते हो। यह है तुम्हारी स्टूडेन्ट लाइफ। कोई गृहस्थ व्यवहार सम्भालते हुए फिर दूसरा कोर्स भी उठाते हैं। यहाँ तो सिर्फ पवित्रता की बात है। बाप और वर्से को याद करना है और पढ़ना भी है। पवित्र जरूर बनना पड़े। कहते भी हैं शेरनी का दूध सोने के बर्तन में ही ठहर सकता है। बाप भी कहते हैं पवित्रता के बिगर धारणा नहीं हो सकती इसलिए बाबा कहते हैं इस काम महाशत्रु को जीतो। तुम पवित्र बनो। मेरे को पहचानो तब तो मैं बुद्धि का ताला खोलूँ। जब तक पवित्र ब्राह्मण कुल भूषण नहीं बनेंगे तो धारणा भी नहीं होगी।

तुम ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी हो और कोई समझ न सके। मनुष्य समझते हैं कि स्वदर्शन चक्रधारी तो देवतायें हैं, यह फिर कौन निकले हैं जो कहते हैं हम ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी हैं। इन बातों को तुम बच्चे ही समझते हो। यह बड़ी गुह्य रमणीक बातें हैं। नॉलेज की शंखध्वनि तुम करते हो। देवतायें तो नहीं करते। वह तो शिवबाबा की शंखध्वनि सुनकर देवता बनते हैं। शिवबाबा तो है नॉलेजफुल। परन्तु उनको शंख कैसे देंगे। नॉलेज तो जरूर किसी के मुख से देंगे ना। उनको ही मुरली कहा जाता है। बाकी कोई काठ की मुरली नहीं है। बरोबर ज्ञान की मुरली बज रही है। मनुष्य तो समझते हैं यह पूजा, भक्ति आदि परम्परा से चली आती है। परन्तु परम्परा से कोई चीज़ चल न सके। कहते भी हैं यह रक्षाबंधन आदि परम्परा से चले आते हैं। अच्छा परम्परा से कब से? यह तो बताओ। क्या परमात्मा ने पतित दुनिया रची? तब उनको पतित-पावन क्यों कहते हो। पढ़ाई की बातें रोज़ बुद्धि में आनी चाहिए। मुख खोलने की प्रैक्टिस करनी चाहिए। तुम तो बहुतों को समझा सकते हो। अपनी उन्नति के लिए प्रबन्ध रचना है। जैसे बाबा सबको रास्ता बताते हैं। हमको फिर औरों को रास्ता बताना है, तब तो बाप से वर्सा पायेंगे। बाकी धमपा मचाने से वर्सा पा नहीं सकेंगे। बाप को बहुत रहम आता है, कितना समझाते हैं परन्तु तकदीर में नहीं है। कितने रत्न मिलते हैं। रत्नों का भी विस्तार बहुत होता है ना। रत्नों में भी फ़र्क बहुत होता है। कोई की कीमत लाख रूपया होती तो कोई की फिर एक रूपया होती। यह भी अविनाशी ज्ञान रत्न हैं जो धारण कर और कराते हैं तो कितना ऊंच पद पाते हैं। बच्चों के मुख से सदैव रत्न ही निकलने चाहिए। बुद्धि समझती है परन्तु मुख से नहीं बोलेंगे तो उसकी वैल्यु क्या होगी। जो मेहनत करेंगे, आप समान बनायेंगे तो फल भी बहुत मिलेगा। यह सर्विस करना और सिखलाना भी कम सर्विस है क्या? तुम्हारी बुद्धि में अब रोशनी आ गई है। सबसे बड़ा साहूकार कौन है? तो 10-12 नाम ले लेते हैं। तुम भी जानते हो इस ड्रामा में मुख्य कौन-कौन हैं। परमपिता परमात्मा शिव क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रिंसीपल एक्टर है। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा फिर है सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन वासी। यह सब बातें तुम अभी जानते हो। लाखों वर्ष कल्प की आयु नहीं है। कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। मनुष्य मात्र तो कितने घोर अन्धियारे में हैं। तुम अब अज्ञान अन्धेरे से निकल कितनी रोशनी में आये हो। कोई तो रोशनी में आये हैं, कोई फिर अन्धियारे में ही पड़े हैं। इसमें है सारी बुद्धि की बात। कोई तो विशाल बुद्धि झट समझ जाते हैं। आत्मा तो है ही स्टार मिसल। भ्रकुटी के बीच में बड़ी चीज़ तो ठहर भी न सके। जरूर ऐसी चीज़ है – जो इन आंखों से देखने में नहीं आती। बड़ी चीज़ हो तो दिखाई दे। आत्मा तो अति सूक्ष्म है, बिन्दी मिसल। यह है गुह्य ते गुह्य बातें। शुरू में अखण्ड ज्योति तत्व कहते थे। शुरू में स्टार कहें तो समझ न सको। सारी नॉलेज एक ही दिन में थोड़ेही दे देंगे। दिन प्रतिदिन गुह्य बातें बाप सुनाते हैं। ज्ञान सागर से अथाह धन मिलता है। जब तक जीना है तब तक ज्ञान अमृत पीते रहना है। पानी की बात नहीं है। ज्ञान सागर से ज्ञान गंगायें निकलती हैं। वह तो पानी का सागर है कहते हैं गंगा अनादि है। यह स्नान आदि चला आता है। तुम देखते थे – बच्चियाँ ध्यान में जाती थी तो गंगा, जमुना नदी में जाकर रास विलास करती थी। यहाँ तो डर लगता है कि डूब न जायें। वहाँ तो डूबने आदि की बात ही नहीं रहती। कभी एक्सीडेंट हो नहीं सकता। तो यही बहार है जबकि तुम कौड़ी से हीरा अथवा पतित से पावन बनते हो। पावन दुनिया बनेगी तो जरूर पतित दुनिया का विनाश होगा। महाभारत में तो पूरा दिखाया नहीं है। दिखाते हैं पाण्डव पहाड़ों पर जाकर गल मरे, साथ में कुत्ता ले गये। क्या पाण्डव कुत्तों को भी पालते हैं क्या? तुम तो कुत्ता पालते नहीं हो। कुत्ते का मान कितना रखा है। बहुत लोग कुत्ता पालते हैं।

बाप तुम बच्चों को समझाते हैं कि तुम बच्चों को बहुत हर्षित रहना है। तुम्हारे पर नित्य ज्ञान वर्षा हो रही है। तुम जानते हो कि बाबा कैसे आते हैं। ज्ञान वर्षा करते हैं और भारत में ही आते हैं इसलिए भारत की बड़ी महिमा है। भारत ही अविनाशी खण्ड है। भारत ही अविनाशी बाप का बर्थ प्लेस है, जो शिवबाबा सभी को पावन बनाने वाला है और कोई जानते नहीं है। वह तो कह देते परमात्मा नाम रूप से न्यारा है, सर्वव्यापी है। कितनी बातें बता दी हैं। बाप कहते हैं मैं आता हूँ, मुझे ब्राह्मण जरूर रचने हैं। कहते भी हैं कि हम ब्रह्मा की औलाद हैं तब तो ब्राह्मण कहलाते हैं। परन्तु यह बातें भूल गये हैं। शिवबाबा ने क्या आकर किया! कैसे ब्रह्मा मुख वंशावली बनाया! तुम अब जानते हो – शिवबाबा आये हैं। वह है रचयिता तो जरूर नई दुनिया ही रची होगी। किसको भी पता नहीं है। न जानने के कारण गालियाँ देते रहते हैं इसलिए बाप कहते हैं यदा यदाहि… यह किसने कहा? कृष्ण ने तो नहीं कहा। कृष्ण की आत्मा को भी अब मालूम पड़ा है कि हम 84 जन्म लेते हैं। तुम जो पहले पास हो ट्रांसफर होते हो – वही पहले जन्म लेते हो। तुम्हारी बुद्धि में कितनी रोशनी है। आपरेशन करते हैं तो एक आंख निकाल दूसरी आंख डाल देते हैं, जिससे रोशनी आ जाती है। कोई का डिफेक्ट रह भी जाता है। तुम आत्माओं के ज्ञान चक्षु खत्म हो गये हैं – वह देने के लिए बाबा आया है। तुम्हारे ज्ञान चक्षु खुल रहे हैं। तीसरा नेत्र ज्ञान का है। जो अब तीसरा नेत्र फिर देवताओं को दे दिया है। अलंकार चक्र आदि भी विष्णु को दे दिया है। वास्तव में तीसरा नेत्र तुम ब्राह्मणों का है। तुम ही हो सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल भूषण। दैवीकुल और आसुरी कुल है। वर्ण कहो, कुल कहो – बात एक ही है, ज्ञान एक ही है। कितनी अच्छी बातें हैं, जो कोई भी शास्त्रों में नहीं हैं। तुम अब त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री, स्वदर्शन चक्रधारी बने हो। कमल पुष्प समान पवित्र रहने का पुरूषार्थ करने वाले हो। तुम जानते हो – किसकी आंख अच्छी खुली है, किसकी खुलती जाती है। आखरीन सेंट परसेंट खुल ही जायेगी। मुख से ज्ञान रत्न निकलते रहेंगे तब तो रूप-बसन्त कहलायेंगे। अब तुम मेहनत करो। पुरूषार्थ करना चाहिए, जितना हो सके – ज्ञान में बड़ा हर्षितमुख, गम्भीर, विशालबुद्धि बन सुख महसूस करते रहना है। स्वर्ग का वर्सा मिल रहा है और क्या चाहिए! कितनी खुशी मनानी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा ज्ञान की रिमझिम में रहना है। रूहानी पण्डा बन सबको रास्ता बताना है। मुख से ज्ञान रत्न ही निकालने हैं।

2) ज्ञान मनन कर सदा हर्षित मुख, गम्भीर और विशालबुद्धि बन सुख का अनुभव करना और कराना है।

वरदान:- मेरे को तेरे में परिवर्तन कर सर्व आकर्षण मुक्त बनने वाले डबल लाइट भव 
लौकिक सम्बन्धों में सेवा करते हुए सदा यही स्मृति रहे कि ये मेरे नहीं हैं, सभी बाप के बच्चे हैं। बाप ने इनकी सेवा अर्थ हमें निमित्त बनाया है। घर में नहीं रहते लेकिन सेवास्थान पर रहते हैं। मेरा सब तेरा हो गया। शरीर भी मेरा नहीं। मेरे में ही आकर्षण होती है। जब मेरा समाप्त हो जाता है तब मन बुद्धि को कोई भी अपनी तरफ खींच नहीं सकता। ब्राह्मण जीवन में मेरे को तेरे में बदलने वाले ही डबल लाइट रह सकते हैं।
स्लोगन:- विघ्न प्रूफ बनने के लिए दुआओं का खजाना जमा करो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 25 September 2017 :- Click Here
Font Resize