daily murli 27 october

TODAY MURLI 27 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 October 2020

27/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, stay on the pilgrimage of remembrance by keeping various methods in front of you. Forget this old world. Remember your sweet home and the new world.
Question: What acts,that is, what efforts, only take place at this time and not at any other time of the cycle?
Answer: In the whole cycle it is only at the time of the confluence age that the effort to stay on the pilgrimage of remembrance and to make souls pure is made and the act of purifying the whole world is performed. These acts repeat every cycle. You children understand these wonderful secrets of the eternal and imperishable drama.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. Therefore, you spiritual children have to sit in soul consciousness, in a spiritual stage, with faith in your intellects and listen to Him. The Father has explained: It is souls alone that listen through their organs. Remember this very firmly. Each one of you must keep the cycle of salvation and degradation in your intellect. Knowledge and worship are included in this. Keep it in your intellects while walking and moving around how the play of knowledge and devotion, happiness and sorrow, day and night, continues to be performed. We play our parts for 84 births. The Father remembers everything and so He inspires you children to make effort to stay in remembrance. Through this, your sins are absolved and you attain the kingdom. You know that this old world is now to be destroyed. When your house has become old and you know that a new one is being built, you have faith inside you that you are soon to go to your new house. However, sometimes it takes one to two years for a new house to be built. For example, when Government House was being built in New Delhi, the Government said that they would be transferred to New Delhi. You children understand that the whole of this unlimited world is old. You now have to go to the new world. Baba shows you many methods. Keep your intellects busy on the pilgrimage of remembrance with these methods. We now have to return home and this is why we have to remember the sweet home for which people beat their heads. It has been explained to you sweetest children that this land of sorrow is now to be destroyed. Although you live here in the old world, you don’t like it. We now have to go to the new world. Although you don’t have the pictures in front of you, you understand that it is now the end of the old world. We will now go to the new world. On the path of devotion there are so many pictures. Compared to that, you have very few. Your pictures are those of the path of knowledge whereas theirs are those of the path of devotion. All the devotion takes place with pictures. However, your pictures are real. Therefore, you can explain what is right and what is wrong. Baba is called the knowledge-full One. You have this knowledge. You know how many births you have taken throughout the whole cycle. You know how the cycle turns. You have to stay in constant remembrance of the Father and also keep this knowledge with you. The Father gives you all the knowledge of the Creator and creation. Therefore, you also remember the Father. Baba has explained: I am your Father, Teacher and Satguru. Simply explain that Baba says: You called Me the Purifier, the Liberator and the Guide. The Guide to where? The Guide to the land of peace and liberation. The Father takes you and leaves you there. He teaches you children, He educates you, He makes you beautiful and takes you home and leaves you there. No matter how much knowledge of the elements and the brahm element anyone has, no one but the Father can take you there. They think that they will merge into the brahm element. It is in your intellects that the land of peace is your home. First you’ll return there and then you’ll be the first ones to enter the new world. Everyone else will come later. You know how those of all the other religions come, numberwise. Whose kingdoms are there in the golden and silver ages? What are their religious scriptures? Those of the sun dynasty and the moon dynasty just have the one scripture. However, that Gita is not real because the knowledge that you now receive finishes here; there are no scriptures there. The scriptures of all the religions that come after the copper age exist all the time; they continue from then. The one religion is now being established and all the others will be destroyed. People continue to speak of one kingdom, one religion, one language and one direction. That can only be established by the One. You children have in your intellects the knowledge of everything from the golden age to the end of the iron age. The Father says: Now make effort to become pure. It has taken you half the cycle to become impure. In fact, you can even say the whole cycle. It is only now that you learn to stay on the pilgrimage of remembrance. This study doesn’t exist there. Deities didn’t make effort to become pure from impure. They studied Raj Yoga previously and went there after becoming pure here. That is called the land of happiness. You know that it is only at this time out of the whole cycle that you make effort to stay on the pilgrimage of remembrance. You know that the effort, that is, the act of purifying the impure world, will repeat in the next cycle. You definitely go around the cycle. All of these things, about how this is a play and how all souls are actors with imperishable parts recorded in them, are in your intellects; it is like a drama. That film becomes worn out as it becomes old. This is imperishable. It is also a wonder how a whole part is recorded in such a tiny soul. The Father explains very deep and subtle things to you. When others hear these things they say that very wonderful things are explained here. We now understand what souls are. Everyone understands about bodies. Doctors can remove the heart of a human being and put it back again, but no one knows about souls. No one even knows how souls become pure from impure. They speak of an impure soul, a pure soul, a great soul. Everyone calls out: O Purifier, come and purify me! However, how can a soul become pure? The eternal Surgeon is needed for that. Souls call out to the One who is beyond birth. Only He has the cure to purify souls. Therefore, you children should have goose pimples of happiness knowing that God is teaching you. He will definitely make you into gods and goddesses. On the path of devotion, Lakshmi and Narayan are called a goddess and god. As are the king and queen, so the subjects. He makes you as pure as Himself. He also makes you into oceans of knowledge and then makes you greater than Himself. He makes you into the masters of the world. Each of you has to play a complete part of becoming pure and impure. You know that Baba has come once again to establish the original, eternal, deity religion. It is of this religion that it is said that religion has disappeared. It is compared to a banyan tree in which many branches emerge, but there is no trunk. Here, too, so many branches of the different religions have emerged, but the foundation of the deity religion no longer exists; it has disappeared. The Father says: That religion does exist, but they have changed its name. Because they are no longer pure, they cannot call themselves deities. It is only because it no longer exists that the Father comes to create creation. You understand that you were pure deities, that you have now become impure. It is the same for everything. You children should not forget this. The first and main destination is to remember the Father through whom you become pure. Everyone says: Come and purify us. They don’t ask to be made into kings and queens. Therefore, you children should have a great deal of intoxication. You know that you are the children of God. We should definitely receive our inheritance now. We have played those parts cycle after cycle. The tree continues to grow. Baba has explained the pictures to you and how this is the picture of salvation. You can explain orally as well as with pictures. The secrets of the beginning, middle and end of the world are in these pictures of yours. You children do service in order to make others similar to yourselves. You must study and also try to teach others. The more you study, the higher the status you claim. The Father says: I inspire you to make effort, but it also has to be in your fortune. Each one of you continues to make effort according to the drama. The Father has also explained the secrets of the drama to you. The Father is the Father and also the Teacher. Together with this, He is also the true Satguru who takes you back with Him. The Father is the immortal Image. This is the throne of this soul through which this one plays his part. The Father too needs a throne in order to play His part and grant salvation. The Father says: I have to enter an ordinary body. I cannot have any pomp or splendour. The followers of those gurus have a golden throne for their guru. They have palaces built etc. What would you make? You are children and also students. Therefore, what would you do for Him? Where would you make it? This one is ordinary. It has been explained to you children that you also have to serve the prostitutes. You have to uplift the poor too. Some children are making effort to do this. They have even been to Benares. If you uplift them, people will say that the BKs perform wonders, that they even give knowledge to prostitutes. You also have to explain to them that they must renounce that business and become the masters of the Temple of Shiva. Study this knowledge and then give it to others. The prostitutes can then give it to others. Once people study this and become clever, they can also explain it to their officers. Keep the pictures in a hall and explain them to others and everyone will say: It is a wonder how the BKs have become instruments to make prostitutes into residents of the Temple of Shiva. You children should have such thoughts of service. You have a very great responsibility. You have to uplift those with stone intellects, the hunchbacks, the natives and those with no virtue. It is remembered that even the sages were uplifted. You understand that the sages will be uplifted at the end. If they were to come and belong to you now, the path of devotion would come to an end; there would be a revolution. Sannyasis would leave their ashrams saying that they have been defeated. That will happen at the end. Baba continues to give you directions about how to do everything. Baba cannot go out anywhere. The Father would say: Go and learn from the children. He continues to give you children different ways to explain. Perform such a task that people sing your praise. It is remembered that God filled the Shaktis with arrows of knowledge. This is the arrow of knowledge. You know that this arrow will take you from this world to the other world. Therefore, you children must have very far-sighted intellects. If your name is glorified in even one place and the Government becomes aware of that, your influence will spread a great deal. If five to seven officers emerge from one place, it would be printed in the newspapers. They would say: The BKs have made prostitutes renounce that business and made them into the masters of the Temple of Shiva. There would be a lot of praise of you. They would also bring all their money. What would you do with that money? You would open big centres. You could use the money to make pictures, etc. People will then see them and become amazed. They would say: You should be the first ones to receive a prize. They would take your pictures to Government House. They would fall in love with them. You should have the desire in your hearts to make ordinary human beings into deities. You know that those who took this knowledge in the previous cycle will take it again. It takes a great deal of effort to renounce all the wealth etc. Baba has explained: I don’t remember my home, friends or relatives. What do I remember? I don’t remember anyone, apart from the Father and you children. I have exchanged everything. Where else could my intellect go? I have given this chariot to the Father. I’m studying just as you are. It is just that I have given this chariot to Baba on loan. You know that we are making effort to go to the sun-dynasty land first of all. This is the story of becoming Narayan from an ordinary human. It is souls who receive a third eye. I, this soul, am studying this knowledge to become a deity. I will then become a king of kings. Shiv Baba says: I am making you doublecrowned. Your intellects have now opened so much, exactly as they did in the previous cycle, according to the drama. You now have to stay on the pilgrimage of remembrance. You also have to continue to turn the world cycle. Remove the old world from your intellects. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep it in your intellect that a new establishment is taking place for you. This old world of sorrow is now about to end. You should not like this world at all.
  2. Baba exchanged everything he had and so his intellect doesn’t go anywhere. Therefore, follow the father. The one and only desire your heart should have is how to serve human beings to make them into deities and how to change the brothel into the Temple of Shiva.
Blessing: May you be a master murlidhar and make Maya surrender to the music of the Murli.
You have heard many murlis and so now become such a murlidhar that Maya surrenders herself to the murli. If you constantly continue to play the music of the secrets of the murli, Maya will surrender herself for all time. The main form of Maya comes is in your making excuses. When you have found the solution to the excuses through the Murli, Maya will then finish for all time. For the excuses to finish means for Maya to finish.
Slogan: Become an embodiment of experience and the sparkle of your fortune of happiness will be visible on your face.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – भिन्न-भिन्न युक्तियां सामने रख याद की यात्रा पर रहो, इस पुरानी दुनिया को भूल अपने स्वीट होम और नई दुनिया को याद करो”
प्रश्नः- कौन सी एक्ट अथवा पुरूषार्थ अभी ही चलता है, सारे कल्प में नहीं?
उत्तर:- याद की यात्रा में रह आत्मा को पावन बनाने का पुरूषार्थ, सारी दुनिया को पतित से पावन बनाने की एक्ट सारे कल्प में सिर्फ इसी संगम समय पर चलती है। यह एक्ट हर कल्प रिपीट होती है। तुम बच्चे इस अनादि अविनाशी ड्रामा के वण्डरफुल राज़ को समझते हो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं इसलिए रूहानी बच्चों को देही-अभिमानी या रूहानी अवस्था में निश्चयबुद्धि होकर बैठना वा सुनना है। बाप ने समझाया है – आत्मा ही सुनती है इन आरगन्स के द्वारा, यह पक्का याद करते रहो। सद्गति और दुर्गति का यह चक्र तो हर एक की बुद्धि में रहना ही चाहिए, जिसमें ज्ञान और भक्ति सब आ जाती है। चलते-फिरते बुद्धि में यह रहे। ज्ञान और भक्ति, सुख और दु:ख, दिन और रात का खेल कैसे चलता है। हम 84 का पार्ट बजाते हैं। बाप को याद है तो बच्चों को भी याद में रहने का पुरूषार्थ कराते हैं, इससे तुम्हारे विकर्म भी विनाश होते हैं और तुम राज्य भी पाते हो। जानते हो यह पुरानी दुनिया तो अब खलास होनी है। जैसे कोई पुराना मकान होता है और नया बनाते हैं तो अन्दर में निश्चय रहता है – अभी हम नये मकान में जायेंगे। फिर मकान बनने में कभी वर्ष दो लग जाते हैं। जैसे नई देहली में गवर्मेन्ट हाउस आदि बनते हैं तो जरूर गवर्मेन्ट कहेगी हम ट्रांसफर हो नई देहली में जायेंगे। तुम बच्चे जानते हो यह सारी बेहद की दुनिया पुरानी है। अब जाना है नई दुनिया में। बाबा युक्तियां बताते हैं – ऐसी-ऐसी युक्तियों से बुद्धि को याद की यात्रा में लगाना है। हमको अब घर जाना है इसलिए स्वीट होम को याद करना है, जिसके लिए मनुष्य माथा मारते हैं। यह भी मीठे-मीठे बच्चों को समझाया है कि यह दु:खधाम अब खत्म होना है। भल तुम यहाँ रहे पड़े हो परन्तु यह पुरानी दुनिया पसन्द नहीं है। हमको फिर नई दुनिया में जाना है। भल चित्र आगे कोई भी न हो तो भी तुम समझते हो अब पुरानी दुनिया का अन्त है। अब हम नई दुनिया में जायेंगे। भक्तिमार्ग के तो कितने ढेर चित्र हैं। उनकी भेंट में तुम्हारे तो बहुत थोड़े हैं। तुम्हारे यह ज्ञान मार्ग के चित्र हैं और वह सब हैं भक्ति मार्ग के। चित्रों पर ही सारी भक्ति होती है। अब तुम्हारे तो हैं रीयल चित्र, इसलिए तुम समझा सकते हो – रांग क्या, राइट क्या है। बाबा को कहा ही जाता है नॉलेजफुल। तुमको यह नॉलेज है। तुम जानते हो हमने सारे कल्प में कितने जन्म लिए हैं। यह चक्र कैसे फिरता है। तुमको निरन्तर बाप की याद और इस नॉलेज में रहना है। बाप तुमको सारे रचता और रचना की नॉलेज देते हैं। तो बाप की भी याद रहती है। बाबा ने समझाया है – मैं तुम्हारा बाप, टीचर, सतगुरू हूँ। तुम सिर्फ यह समझाओ – बाबा कहते हैं तुम मुझे पतित-पावन, लिब्रेटर, गाइड कहते हो ना। कहाँ का गाइड? शान्तिधाम, मुक्तिधाम का। वहाँ तक बाप ले जाकर छोड़ेंगे। बच्चों को पढ़ाकर, सिखलाकर, गुल-गुल बनाकर घर ले जाए छोड़ेंगे। बाप के सिवाए तो कोई ले जा नहीं सकते। भल कोई कितना भी तत्व ज्ञानी वा ब्रह्म ज्ञानी हो। वह समझते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। तुम्हारी बुद्धि में है कि शान्तिधाम तो हमारा घर है। वहाँ जाकर फिर नई दुनिया में हम पहले-पहले आयेंगे। वह सब बाद में आने वाले हैं। तुम जानते हो कैसे सब धर्म नम्बरवार आते हैं। सतयुग-त्रेता में किसका राज्य है। उन्हों का धर्म शास्त्र क्या है। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी का तो एक ही शास्त्र है। परन्तु वह गीता कोई रीयल नहीं है क्योंकि तुमको जो ज्ञान मिलता है वह तो यहाँ ही खत्म हो जाता है। वहाँ कोई शास्त्र नहीं। द्वापर से जो धर्म आते हैं उन्हों के शास्त्र कायम हैं। चले आ रहे हैं। अब फिर एक धर्म की स्थापना होती है तो बाकी सब विनाश हो जाने हैं। कहते रहते हैं एक राज्य, एक धर्म, एक भाषा, एक मत हो। वह तो एक द्वारा ही स्थापन हो सकता है। तुम बच्चों की बुद्धि में सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक सारा ज्ञान है। बाप कहते हैं अब पावन बनने के लिए पुरूषार्थ करो। आधाकल्प लगा है तुमको पतित बनने में। वास्तव में सारा कल्प ही कहें, यह याद की यात्रा तो तुम अभी ही सीखते हो। वहाँ यह है नहीं। देवतायें पतित से पावन होने का पुरुषार्थ नहीं करते। वह पहले राजयोग सीख यहाँ से पावन हो जाते हैं। उसको कहा जाता है सुखधाम। तुम जानते हो सारे कल्प में सिर्फ अब ही हम याद की यात्रा का पुरूषार्थ करते हैं। फिर यही पुरूषार्थ अथवा जो एक्ट चलती है – पतित दुनिया को पावन बनाने लिए – फिर कल्प बाद रिपीट होगी। चक्र तो जरूर लगायेंगे ना। तुम्हारी बुद्धि में यह सब बातें हैं – कि यह नाटक है, सभी आत्मायें पार्टधारी हैं जिनमें अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। जैसे वह ड्रामा चलता रहता है। परन्तु वह फिल्म घिसकर पुरानी हो जाती है। यह है अविनाशी। यह भी वण्डर है। कितनी छोटी आत्मा में सारा पार्ट भरा हुआ है। बाप तुम्हें कितनी गुह्य-गुह्य महीन बातें समझाते हैं। अभी कोई भी सुनते हैं तो कहते हैं यह तो बड़ी वण्डरफुल बातें समझाते हो। आत्मा क्या है, वह अभी समझा है। शरीर को तो सब समझते हैं। डाक्टर लोग तो मनुष्य के हार्ट को भी निकालकर बाहर रखते फिर डाल देते हैं। परन्तु आत्मा का किसको पता नहीं है। आत्मा पतित से पावन कैसे बनती है, यह भी कोई नहीं जानते। पतित आत्मा, पावन आत्मा, महान् आत्मा कहते हैं ना। सब पुकारते भी हैं कि हे पतित-पावन आकर मुझे पावन बनाओ। परन्तु आत्मा कैसे पावन बनेगी – उसके लिए चाहिए अविनाशी सर्जन। आत्मा पुकारती उसको है जो पुनर्जन्म रहित है। आत्मा को पवित्र बनाने की दवाई उनके पास ही है। तो तुम बच्चों के खुशी में रोमांच खड़े हो जाने चाहिए – भगवान पढ़ाते हैं, जरूर तुमको भगवान-भगवती बनायेंगे। भक्ति मार्ग में इन लक्ष्मी-नारायण को भगवान-भगवती ही कहते हैं। तो यथा राजा-रानी तथा प्रजा होगी ना। आपसमान पवित्र भी बनाते हैं। ज्ञान सागर भी बनाते हैं फिर अपने से भी जास्ती, विश्व का मालिक बनाते हैं। पवित्र, अपवित्र का कम्पलीट पार्ट तुमको बजाना होता है। तुम जानते हो बाबा आया हुआ है फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करने। जिसके लिए ही कहते हैं यह धर्म प्राय:लोप हो गया है। उनकी बड़ के झाड़ से ही भेंट की गई है। शाखायें ढेर निकलती हैं, थुर है नहीं। यह भी कितने धर्मों की शाखायें निकली हैं, फाउन्डेशन देवता धर्म है नहीं। प्राय:लोप है। बाप कहते हैं वह धर्म है परन्तु धर्म का नाम फिरा दिया है। पवित्र न होने के कारण अपने को देवता कह न सकें। न हो तब तो बाप आकर रचना रचे ना। अभी तुम समझते हो हम पवित्र देवता थे। अभी पतित बनें हैं। हर चीज़ ऐसे होती है। तुम बच्चों को यह भूलना नहीं चाहिए। पहली मुख्य मंजिल है बाप को याद करने की, जिससे ही पावन बनना है। बोलते सब ऐसे हैं, हमको पावन बनाओ। ऐसे नहीं कहेंगे कि हमको राजा-रानी बनाओ। तो तुम बच्चों को बहुत फखुर होना चाहिए। तुम जानते हो हम तो भगवान के बच्चे हैं। अभी हमको जरूर वर्सा मिलना चाहिए। कल्प-कल्प यह पार्ट बजाया है। झाड़ बढ़ता ही जायेगा। बाबा ने चित्रों पर भी समझाया है कि यह है सद्गति के चित्र। तुम ओरली भी समझाते हो, चित्रों पर भी समझाते हो। तुम्हारे इन चित्रों में सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ आ जाता है। बच्चे जो सर्विस करने वाले हैं, आपसमान बनाते जाते हैं। पढ़कर पढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए। जितना जास्ती पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। बाप कहते हैं मैं तदबीर तो कराता हूँ, परन्तु तकदीर भी हो ना। हर एक ड्रामा अनुसार पुरुषार्थ करते रहते हैं। ड्रामा का राज़ भी बाप ने समझाया है। बाप, बाप भी है, टीचर भी है। साथ ले जाने वाला सच्चा-सच्चा सतगुरू भी है। वह बाप है अकाल मूर्त। आत्मा का यह तख्त है ना, जिससे यह पार्ट बजाते हैं। तो बाप को भी पार्ट बजाने, सद्गति करने के लिए तख्त चाहिए ना। बाप कहते हैं मुझे साधारण तन में ही आना है। भभका वा ठाठ कुछ भी नहीं रख सकता हूँ। वो गुरूओं के फालोअर्स लोग तो गुरू के लिए सोने के सिंहासन, महल आदि बनाते हैं। तुम क्या बनायेंगे? तुम बच्चे भी हो, स्टूडेन्ट भी हो। तो तुम उनके लिए क्या करेंगे? कहाँ बनायेंगे? यह है तो साधारण ना।

बच्चों को यह भी समझाते रहते हैं – वेश्याओं की सर्विस करो। गरीबों का भी उद्धार करना है। बच्चे कोशिश भी करते हैं, बनारस में भी गये हैं। उन्हों को तुमने उठाया तो कहेंगे वाह बी.के. की तो कमाल है – वेश्याओं को भी यह ज्ञान देती हैं। उनको भी समझाना है अभी तुम यह धंधा छोड़ शिवालय की मालिक बनो। यह नॉलेज सीखकर फिर सिखलाओ। वेश्यायें भी फिर औरों को सिखला सकती हैं। सीखकर होशियार हो जायेंगे तो फिर अपने ऑफिसर्स को भी समझायेंगे। हाल में चित्र आदि रख बैठकर समझाओ तो सब कहेंगे वाह वेश्याओं को शिवालय वासी बनाने के लिए यह बी.के. निमित्त बनी हैं। बच्चों को सर्विस के लिए ख्यालात चलने चाहिए। तुम्हारे ऊपर बहुत रेसपान्सिबिलिटी है। अहिल्यायें, कुब्जायें, भीलनियां, गणिकायें इन सबका उद्धार करना है। गायन भी है साधुओं का भी उद्धार किया है। यह तो समझते हो साधुओं का उद्धार होगा पिछाड़ी में। अभी वह तुम्हारे बन जाएं तो भक्ति मार्ग ही सारा खत्म हो जाए। रिवोलूशन हो जाए। संन्यासी लोग ही अपना आश्रम छोड़ दें, बस हमने हार खाई। यह पिछाड़ी में होगा। बाबा डायरेक्शन देते रहते हैं – ऐसे-ऐसे करो। बाबा तो कहाँ बाहर नहीं जा सकते। बाप कहेंगे बच्चों से जाकर सीखो। समझाने की युक्तियां तो सब बच्चों को बताते रहते हैं। ऐसा कार्य करके दिखाओ जो मनुष्यों के मुख से वाह-वाह निकले। गायन भी है शक्तियों में ज्ञान बाण भगवान ने भरे थे। यह हैं ज्ञान बाण। तुम जानते हो यह बाण तुमको इस दुनिया से उस दुनिया में ले जाते हैं। तो तुम बच्चों को बहुत विशाल बुद्धि बनना है। एक जगह भी तुम्हारा नाम हुआ, गवर्मेन्ट को मालूम पड़ा तो फिर बहुत प्रभाव निकलेगा। एक जगह से ही कोई अच्छे 5-7 ऑफिसर्स निकले तो वह अखबारों में डालने लग पड़ेंगे। कहेंगे यह बी.के. वेश्याओं से भी वह धंधा छुड़ाए शिवालय का मालिक बनाती हैं। बहुत वाह-वाह निकलेगी। धन आदि सब वह ले आयेंगे। तुम धन क्या करेंगे! तुम बड़े-बड़े सेन्टर्स खोलेंगे। पैसे से चित्र आदि बनाने होते हैं। मनुष्य देखकर बड़ा वण्डर खायेंगे। कहेंगे पहले-पहले तो तुमको प्राइज़ देनी चाहिए। गवर्मेन्ट हाउस में भी तुम्हारे चित्र ले जायेंगे। इन पर बहुत आशिक होंगे। दिल में चाहना होनी चाहिए – मनुष्य को देवता कैसे बनायें। यह तो जानते हो जिन्होंने कल्प पहले लिया है वही लेंगे। इतना धन आदि सब कुछ छोड़ दे, मेहनत है। बाबा ने बताया – हमारा अपना घरघाट मित्र-सम्बन्धी आदि कुछ भी नहीं, हमको क्या याद पड़ेगा, सिवाए बाप के और तुम बच्चों के कुछ नहीं है। सब कुछ एक्सचेंज कर दिया। बाकी बुद्धि कहाँ जायेगी। बाबा को रथ दिया है। जैसे तुम वैसे हम पढ़ रहे हैं। सिर्फ रथ बाबा को लोन पर दिया है।

तुम जानते हो हम पुरूषार्थ कर रहे हैं, सूर्यवंशी घराने में पहले-पहले आने के लिए। यह है ही नर से नारायण बनने की कथा। तीसरा नेत्र आत्मा को मिलता है। हम आत्मा पढ़कर नॉलेज सुन देवता बन रहे हैं। फिर सो राजाओं का राजा बनेंगे। शिवबाबा कहते हैं मैं तुमको डबल सिरताज बनाता हूँ। तुम्हारी अभी कितनी बुद्धि खुल गई है, ड्रामा अनुसार कल्प पहले मुआफिक। अब याद की यात्रा में भी रहना है। सृष्टि चक्र को भी याद करना है। पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूलना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में रहे अब हमारे लिए नई स्थापना हो रही है, यह दु:ख की पुरानी दुनिया खत्म हुई कि हुई। यह दुनिया बिल्कुल पसन्द नहीं आनी चाहिए।

2) जैसे बाबा ने अपना सब कुछ एक्सचेंज कर दिया तो बुद्धि कहाँ जाती नहीं। ऐसे फालो फादर करना है। दिल में बस यही चाहना रहे कि हम मनुष्य को देवता बनाने की सेवा करें, इस वेश्यालय को शिवालय बनायें।

वरदान:- मुरली के साज़ द्वारा माया को सरेन्डर कराने वाले मास्टर मुरलीधर भव
मुरलियां तो बहुत सुनी हैं अब ऐसे मुरलीधर बनो जो माया मुरली के आगे न्योछावर (सरेन्डर) हो जाए। मुरली के राज़ का साज़ अगर सदैव बजाते रहो तो माया सदा के लिए सरेन्डर हो जायेगी। माया का मुख्य स्वरूप कारण के रूप में आता है। जब मुरली द्वारा कारण का निवारण मिल जायेगा तो माया सदा के लिए समाप्त हो जायेगी। कारण खत्म अर्थात् माया खत्म।
स्लोगन:- अनुभवी स्वरूप बनो तो चेहरे से खुशनसीबी की झलक दिखाई देगी।

TODAY MURLI 27 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 26 October 2019:- Click Here

27/10/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/02/85

The specialities of the Shiv Shakti Pandav Army.

Today, at amrit vela, BapDada was seeing the special double-foreign children who live far away and yet remain close to the heart who have personally come in front of Baba. Today, a sweet heart-to-heart conversation took place between Bap and Dada. On what topic? Father Brahma was especially pleased with the doubleforeign children and said: It is the wonder of you children that, although you are residents of such faraway lands, you constantly have love and the one definite, deep desire for everyone to receive BapDada’s message in whatever way possible. For that, some children perform double tasks. Whilst remaining doubly busy in lokik and alokik things, they do not consider their own rest, they are always lost in that task day and night. Not even concerned about their food or drink, they are constantly busy doing service. You have adopted purity, which people consider to be an unnatural life and renounced impurity. You have taken it into your lives with courage and determination, out of love for the Father, with the pilgrimage of remembrance, on the basis of your attainment of peace and on the basis of your study and the company of the family. What people consider to be very difficult, you have made easy. Seeing the Pandava Army, Father Brahma was especially singing songs of praise of you children. About which aspect? Each one of you has it in your heart that purity is the primary method to become a yogi. Purity is the means to experience the Father’s love. Purity is the basis of success in service. Each of you has this pure thought very firmly in your heart. The wonder of you Pandavas is that, whilst keeping the Shaktis in front, you move along with zeal and enthusiasm and make yourselves move forward. The intense speed of the efforts of you Pandavas shows that this is enabling you to progress well. The majority of you are continually moving forward at this speed.

Father Shiva said: Pandavas have shown a good record of especially giving regard. As well as that, He also said something amusing. In between, they also play games of sanskars. However, even then, because of their enthusiasm for making progress and because of having deep love for the Father, they understand that the Father loves their transformation out of love. This is why they surrender themselves. They only do what the Father says and wants. They transform themselves with this thought. Out of love, their labour doesn’t seem like labour. To tolerate something out of love doesn’t seem like tolerating. This is why they still continue to say “Baba, Baba” and keep moving forward. According to the sanskars and make-up of the bodies of this birth, that is, whilst being limited creators, they have transformed themselves very well. Because they have kept the Father, the Creator, in front of them, they have imbibed well the qualifications for the aim of becoming egoless and humble and are still imbibing them. They come into contact with others in the atmosphere of the world but, because they have the canopy of protection of love for remembrance, they are giving very good proof of remaining safe. Did you hear about the Pandavas? Today, instead of being the Beloved, BapDada has become the Lover. This is why He is pleased to see you. Both have special love for you children. So, today, at amrit vela, BapDada turned the rosary of the specialities and virtues of the children. All of you people have been turning the rosary for 63 births and, in return, the Father is turning the rosary now and is giving you a response. Achcha.

What rosary of the Shaktis did Baba turn? The greatest speciality of the Shakti Army is that you are moving forward with love by being absorbed in the Father’s love at every moment out of your love for Him and with your experience of having all relationships with the One. You constantly have the Father merged in one eye and service merged in the other eye. The special transformation you have had is that you have renounced your carelessness and your sensitive natures. You have become the forms of Shaktis who have courage. Today, BapDada was especially looking at the young Shaktis. In this age of youth, you have renounced many types of temporary attractions and are moving along with the one Father’s attraction with zeal and enthusiasm. You have experienced the world to be a tasteless world and have therefore made the Father your world. By using your bodies, minds and wealth for the Father and for service, you have experienced attainment and are now moving ahead in the flying stage. You have worn the crown of responsibility of service very well. Even whilst sometimes experiencing tiredness, whilst sometimes experiencing a burden on your intellects, by having the determination to follow the Father and that you have to reveal Him, you have finished all of those things and are achieving success. This is why, when BapDada sees the love of the children, He repeatedly gives the blessing: “When the children maintain courage, the Father helps.” Success is your birthright anyway. By keeping the Father’s company, you are able to overcome every situation as though you are pulling a hair out of butter. Success is the garland around the children’s necks. Garlands of success are going to welcome you children. Therefore, even BapDada surrenders Himself to the renunciation, tapasya and service of you children. Because of love, you don’t experience anything to be difficult. It is like this, is it not? Where there is love, in the world of love, the word “difficult” doesn’t exist; it is not in the Father’s world or the Father’s language. The speciality of the Shakti Army is making difficult things easy. Each one of you has enthusiasm in your heart to become an instrument to give the message to the maximum number of people as quickly as possible and bring a spiritual bouquet of roses in front of the Father. Just as the Father has made you, so you too need to make others like that and bring them in front of the Father. With the co-operation of one another collectively, the Shakti Army abroad has pure enthusiasm for creating something new even more so than in Bharat. Where there is the thought, success too is definitely there. The Shakti Army at each of your places is successful in growing and in being successful in everything and will continue to do so. Seeing the love of both, seeing your enthusiasm for service, BapDada is pleased. How much can Baba praise each one’s virtues? Nevertheless, in the subtle region, BapDada was speaking of the virtues of each and every child. Whilst still thinking about it, some people of this land will be left out, whereas children from abroad have recognised Him and claimed their right. Those people will be left watching and you will arrive home with the Father. They will be crying out whereas you will be continuing to give a drop of something with your drishti of blessings.

So, did you hear what BapDada especially did today? Seeing the whole gathering, BapDada was singing the praise of the fortunate children who are creating their fortune. Those who live far away have become close, whereas those who live in Abu have become very distant. They are distant although living close and you are close although you live far away. They are those who simply watch and you are those who are always seated on the heart-throne. You find ways to come to Madhuban with so much love. Every month you sing these songs: I want to meet the Father. I want to go there. I have to save up for that. So, this love also becomes a means to become a conqueror of Maya. If you were to receive a ticket easily, there would be more obstacles in that love. However, you create a lake, drop by drop. Therefore, the Father’s remembrance is merged in your accumulating every drop. This is why whatever happens in the drama is beneficial. If you were to receive a lot more money, Maya would then come and you would forget service. This is why the wealthy don’t become the Father’s children who have a right.

You earn and you save. There is power in saving the money of a true income. The money of a true income is being used in a worthwhile way for the Father’s task. If you were to receive money just like that, your body wouldn’t be used for it and if your body were not used, your mind would also fluctuate. This is why all three – your body, mind and wealth – are being used for this. This is why to earn at the confluence age and save in God’s bank is the number one life. If you simply earn and save in worldly perishable banks, that is not used in a worthwhile way. If you earn and accumulate in the imperishable bank, then one becomes multiplied multimillion fold. It is then accumulated for 21 births. Whatever you do with your heart reaches Dilaram, the Comforter of Hearts. If someone does something simply to show others, then that is used up in making a show; it doesn’t reach the Comforter of Hearts. This is why you, who act from your heart, are good. If you do something from your heart, you become a multimillionaire, whereas if you do a thousand times as much just for show, you don’t become a multimillionaire. The income of the heart, the income of love, is a true income. What do you earn money for? For service, do you not? Or, is it for your own comfort? So, the income of a true heart is that one becomes multimillion-fold. If you earn and save for your own comfort then, although you might have comfort here, you will later become instruments who give comfort to others. What will the maids and servants do? They will be there to give comfort to a royal family. By having rest and comfort here, you will become instruments who have to give rest and comfort there. Therefore, whatever you earn with love and a true heart and use for service, you are using that in a worthwhile way. You receive blessings from many souls. Those for whom you become instruments will then become your devotees and worship you. You served those souls and, in return for that service, they will serve your non-living images; they will worship them. They will continue to give you the return of service for 63 births. You will receive from the Father anyway, but you will also receive from those souls. Those to whom you give the message and who then don’t claim a right, they will give the return in this way. Those who claim a right then come into a relationship with you. Some come into a relationship with you and some become devotees. Some become subjects. Various results emerge. Do you understand? People ask: Why are you running around doing service? Just eat, drink and be merry. What do you receive by chasing after service day and night? What do you then say? Try and experience what we have received. Only those who have experienced this happiness know about it. This is the song you sing, is it not? Achcha.

To those who are constantly lost in love, to those who constantly experience renunciation to be fortune, to those who constantly make multimillions out of one, to those who constantly follow BapDada, to those who experience the Father to be their world, to such children seated on the heart throne, love, remembrance and namaste from the Father, the Comforter of Hearts.

Personal meeting of BapDada with double foreigners:

Do you consider yourselves to be fortunate souls? You have at least created so much fortune that you have reached the place of the Bestower of Fortune. Do you understand what this place is? To reach a place of peace is also fortune. So this path of attaining fortune has also opened. According to the drama, you have come to the place where you attain fortune. The line of fortune is drawn here. So, you have made your fortune elevated.

Now, just give a little time. You have time and you can also give your company. There is nothing difficult in this. For something that is difficult you have to think a little. If it is easy, then do it. By doing so, all the temporary hopes and desires you have in life will be fulfilled by imperishable attainment. To chase after those temporary desires is like chasing your shadow. The more you try to catch your shadow, the more it will go ahead of you, and you won’t be able to reach it. However, if you simply continue to move forward, it will follow you. So, by going after imperishable attainments in this way, perishable things will all end. Do you understand? This is the method to use for attaining all attainments. Renunciation for a short time enables you to attain fortune for all time. Therefore, constantly continue to move forward by understanding this aim. By doing this, you will attain the treasure of a lot of happiness. The greatest treasure of all in life is happiness. If there is no happiness, there is no life. So, you can attain the treasure of imperishable happiness.

Service is the means for creating your stage.

BapDada sees the children’s zeal and enthusiasm for always moving forward. The children’s zeal and enthusiasm reach BapDada. Children have the desire in them to bring the VVIPs of the world in front of the Father. This enthusiasm will continue to become practical because you definitely receive the fruit of selfless service. Service enables you to create your own stage. Therefore, never think that this service is so big and that your stage is not like that. However, service will automatically enable your stage to be created. Service of others is the means for self-progress. Service will automatically continue to make your stage powerful. You receive the Father’s help, do you not? By receiving the Father’s help and with your power increasing, that stage will also come. Do you understand? Therefore, never think: How can I do this service because my stage is not like that? No. Continue to do it. BapDada’s blessing is: You definitely have to move forward. The sweet bond of service is the means for moving forward. With the authority of their experience the sound of those who speak from their hearts reaches their hearts. Words that have the authority of experience inspire others to have an experience. Whilst you move forward in service, the test papers that come are also a way of moving forward, because your intellects then work on that and you pay special attention to staying in remembrance. So, that too becomes a special lift. This is then always in your intellects: How can we make the atmosphere very powerful? No matter in how big a form an obstacle comes, you elevated souls receive benefit from that. That big form then becomes small through your power of remembrance. It is like a paper tiger. Achcha.

Blessing: May you be a worthy-of-worship soul who invokes your deity status in an accurate way for Deepmala.
Earlier, on Deepmala, people would light lamps systematically and pay attention so that the lamps did not go out. They would pour in oil, and they would have the practice of invoking in the right way. Now, instead of deepaks (lamps) they just use bulbs. They don’t now celebrate Deepmala, for it has just become a form of entertainment. The method of invocation, that is, the spiritual endeavour, has finished. Love has finished and just selfish motives are left, and this is why Lakshmi, the form of a true bestower, does not come to anyone. However, all of you accurately invoke your deity status and this is why you yourselves become deities.
Slogan: Always have an unlimited attitude, vision and stage, for only then will the task of world benefit be accomplished.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 October 2019

To Read Murli 26 October 2019:- Click Here
27-10-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-02-85 मधुबन

शिव शक्ति पाण्डव सेना की विशेषतायें

आज बापदादा अमृतवेले से विशेष सम्मुख आये हुए दूरदेश में रहने वाले, दिल से समीप रहने वाले डबल विदेशी बच्चों को देख रहे थे। बाप और दादा की आपस में आज मीठी रूह-रूहान चल रही थी। किस बात पर? ब्रह्मा बाप विशेष डबल विदेशी बच्चों को देख हर्षित हो बोले कि कमाल है बच्चों की जो इतना दूर देशवासी होते हुए भी सदा स्नेह से एक ही लगन में रहते कि सभी को किस भी रीति से बापदादा का सन्देश जरूर पहुँ-चायें। उसके लिए कई बच्चे डबल कार्य करते हुए लौकिक और अलौ-किक में डबल बिजी होते भी अपने आराम को भी न देखते हुए रात दिन उसी लगन में लगे हुए हैं। अपने खाने-पीने की भी परवाह न करके सेवा की धुन में लगे रहते हैं। जिस प्युरिटी की बात को अननैचुरल जीवन समझते रहे, उसी प्युरिटी को अपनाने के लिए, इमप्युरिटी को त्याग करने के लिए हिम्मत से, दृढ़ संकल्प से, बाप के स्नेह से, याद की यात्रा द्वारा शान्ति की प्राप्ति के आधार से, पढ़ाई और परिवार के संग के आधार से अपने जीवन में धारण कर ली है। जिसको मुश्किल समझते थे वह सहज कर ली है। ब्रह्मा बाप विशेष पाण्डव सेना को देख बच्चों की महिमा गा रहे थे। किस बात की? हर एक की दिल में है कि पवित्रता ही योगी बनने का पहला साधन है। पवित्रता ही बाप के स्नेह को अनुभव करने का साधन है, पवित्रता ही सेवा में सफलता का आधार है। यह शुभ संकल्प हरेक की दिल में पक्का है। और पाण्डवों की कमाल यह है जो शक्तियों को आगे रखते हुए भी स्वयं को आगे बढ़ाने के उमंग उत्साह में चल रहे हैं। पाण्डवों के तीव्र पुरूषार्थ करने की रफ्तार, अच्छी उन्नति को पाने वाली दिखाई दे रही है। मैजारिटी इसी रफ्तार से आगे बढ़ते जा रहे हैं।

शिव बाप बोले – पाण्डवों ने अपना विशेष रिगार्ड देने का रिकार्ड अच्छा दिखाया है। साथ-साथ हंसी की बात भी बोली। बीच-बीच में संस्कारों का खेल भी खेल लेते हैं। लेकिन फिर भी उन्नति के उमंग कारण बाप से अति स्नेह होने के कारण समझते हैं स्नेह के पीछे यह परि-वर्तन ही बाप को प्यारा है इसलिए बलिहार हो जाते हैं। बाप जो कहते, जो चाहते वही करेंगे। इस संकल्प से अपने आपको परिवर्तन कर लेते हैं। मुहब्बत के पीछे मेहनत, मेहनत नहीं लगती। स्नेह के पीछे सहन करना, सहन करना नहीं लगता इसलिए फिर भी बाबा-बाबा कह करके आगे बढ़ते जा रहे हैं। इस जन्म के चोले के संस्कार पुरुषत्व अर्थात् हद के रचता पन के होते हुए फिर भी अपने को परिवर्तन अच्छा किया है। रचता बाप को सामने रखने कारण निरहंकारी और नम्रता भाव इस धारणा का लक्ष्य और लक्षण अच्छे धारण किये हैं और कर रहे हैं। दुनिया के वातावरण के बीच सम्पर्क में आते हुए फिर भी याद की लगन की छत्रछाया होने के कारण सेफ रहने का सबूत अच्छा दे रहे हैं। सुना-पाण्डवों की बातें। बापदादा आज माशूक के बजाए आशिक हो गये हैं इसलिए देख-देख हर्षित हो रहे हैं। दोनों का बच्चों से विशेष स्नेह तो है ना। तो आज अमृतवेले से बच्चों के विशेषताओं की वा गुणों की माला सिमरण की। आप लोगों ने 63 जन्मों में मालायें सिमरण की और बाप रिटर्न में अभी माला सिमरण कर रेसपान्ड दे देते हैं।

अच्छा शक्तियों की क्या माला सिमरण की? शक्ति सेना की सबसे ज्यादा विशेषता यह है-स्नेह के पीछे हर समय एक बाप में लवलीन रहने की, सर्व सम्बन्धों के अनुभवों में अच्छी लगन से आगे बढ़ रही हैं। एक ऑख में बाप, दूसरी ऑख में सेवा दोनों नयनों में सदा यही समाया हुआ है। विशेष परिवर्तन यह है जो अपने अलबेलेपन, नाज़ुकपन का त्याग किया है। हिम्मत वाली शक्ति स्वरूप बनी हैं। बापदादा आज विशेष छोटी-छोटी आयु वाली शक्तियों को देख रहे थे। इस युवा अवस्था में अनेक प्रकार के अल्पकाल के आकर्षण को छोड़ एक ही बाप की आकर्षण में अच्छे उमंग-उत्साह से चल रहे हैं। संसार को असार संसार अनुभव कर बाप को संसार बना दिया है। अपने तन-मन-धन को बाप और सेवा में लगाने से प्राप्ति का अनुभव कर आगे उड़ती कला में जा रही हैं। सेवा की जिम्मेवारी का ताज धारण अच्छा किया है। थकावट को कभी-कभी महसूस करते हुए, बुद्धि पर कभी-कभी बोझ अनुभव करते हुए भी बाप को फालो करना ही है, बाप को प्रत्यक्ष करना ही है इस दृढ़ता से इन सब बातों को समाप्त कर फिर भी सफलता को पा रही हैं इस-लिए बापदादा जब बच्चों की मुहब्बत को देखते हैं तो बार-बार यही वरदान देते हैं-“हिम्मते बच्चे मददे बाप”। सफलता आपका जन्म सिद्ध अधिकार है ही है। बाप का साथ होने से हर परिस्थिति से ऐसे पार कर लेते जैसे माखन से बाल। सफलता बच्चों के गले की माला है। सफलता की माला आप बच्चों का स्वागत करने वाली है। तो बच्चों के त्याग, तपस्या और सेवा पर बापदादा भी कुर्बान जाते हैं। स्नेह के कारण कोई भी मुश्किल अनुभव नहीं करते। ऐसे है ना! जहाँ स्नेह है, स्नेह की दुनिया में वा बाप के संसार में बाप की भाषा में मुश्किल शब्द है ही नहीं। शक्ति सेना की विशेषता है मुश्किल को सहज करना। हर एक की दिल में यही उमंग है कि सबसे ज्यादा और जल्दी से जल्दी सन्देश देने के निमित बन बाप के आगे रूहानी गुलाब का गुलदस्ता लावें। जैसे बाप ने हमको बनाया है वैसे हम औरों को बनाकर बाप के आगे लावें। शक्ति सेना एक दो के सहयोग से संगठित रूप में भारत से भी कोई विशेष नवीनता विदेश में करने के शुभ उमंग में है। जहाँ संकल्प है वहाँ सफलता अवश्य है। शक्ति सेना हर एक अपने भिन्न-भिन्न स्थानों पर वृद्धि और सिद्धि को प्राप्त करने में सफल हो रही है और होती रहेगी। तो दोनों के स्नेह को देख, सेवा के उमंग को देख बापदादा हर्षित हो रहे हैं। एक-एक के गुण कितने गायन करें लेकिन वतन में एक-एक बच्चे के गुण बापदादा वर्णन कर रहे थे। देश वाले सोचते-सोचते कई रह जायेंगे लेकिन विदेश वाले पहचान कर अधिकारी बन गये हैं। वह देखते रह जायेंगे, आप बाप के साथ घर पहुँच जायेंगे। वह चिल्लायेंगे और आप वरदानों की दृष्टि से फिर भी कुछ न कुछ अंचली देते रहेंगे।

तो सुना आज विशेष बापदादा ने क्या किया? सारा संगठन देख बापदादा भाग्यवान बच्चों के भाग्य बनाने की महिमा गा रहे थे। दूर वाले नजदीक के हो गये और नजदीक आबू में रहने वाले कितने दूर हो गये हैं! पास रहते भी दूर हैं। और आप दूर रहते भी पास हैं। वह देखने वाले और आप दिल-तख्त पर सदा रहने वाले। कितने स्नेह से मधुबन आने का साधन बनाते हैं। हर मास यही गीत गाते हैं – बाप से मिलना है, जाना है। जमा करना है। तो यह लगन भी मायाजीत बनने का साधन बन जाती है। अगर सहज टिकेट मिल जाए तो इतनी लगन में विघ्न ज्यादा पड़ें। लेकिन फुरी-फुरी तलाब करते हैं इसलिए बूँद-बूँद जमा करने में बाप की याद समाई हुई होती है इसलिए यह भी ड्रामा में जो होता है, कल्याणकारी है। अगर ज्यादा पैसे मिल जाएं तो फिर माया आ जाए फिर सेवा भूल जायेगी इसलिए धनवान, बाप के अधिकारी बच्चे नहीं बनते हैं।

कमाया और जमा किया। अपनी सच्ची कमाई का जमा करना इसी में बल है। सच्ची कमाई का धन बाप के कार्य में सफल हो रहा है। अगर ऐसे ही धन आ जाए तो तन नहीं लगेगा। और तन नहीं लगेगा तो मन भी नीचे ऊपर होगा इसलिए तन-मन-धन तीनों ही लग रहे हैं इसलिए संगमयुग पर कमाया और ईश्वरीय बैंक में जमा किया, यह जीवन ही नम्बरवन जीवन है। कमाया और लौकिक विनाशी बैंकों में जमा किया तो वह सफल नहीं होता। कमाया और अविनाशी बैंक में जमा किया तो एक पदमगुणा बनता। 21 जन्मों के लिए जमा हो जाता। दिल से किया हुआ दिलाराम के पास पहुँचता है। अगर कोई दिखावा की रीति से करते तो दिखावे में ही खत्म हो जाता है। दिलाराम तक नहीं पहुँचता इसलिए आप दिल से करने वाले अच्छे हो। दिल से दो करने वाले भी पदमापदम पति बन जाते हैं और दिखावा से हजार करने वाले भी पदमापदम पति नहीं बनते। दिल की कमाई, स्नेह की कमाई सच्ची कमाई है। कमाते किसलिए हो? सेवा के लिए, ना कि अपने आराम के लिए? तो यह है सच्ची दिल की कमाई। जो एक भी पदमगुणा बन जाता है। अगर अपने आराम के लिए कमाते वा जमा करते हैं तो यहाँ भले आराम करेंगे लेकिन वहाँ औरों को आराम देने लिए निमित्त बनेंगे! दास-दासियाँ क्या करेंगे! रॉयल फैमली को आराम देने के लिए होंगे ना! यहाँ के आराम से वहाँ आराम देने के लिए निमित्त बनना पड़े इसलिए जो मुहब्बत से सच्ची दिल से कमाते हो, सेवा में लगाते हो वही सफल कर रहे हो। अनेक आत्माओं की दुआयें ले रहे हो। जिन्हों के निमित्त बनते हो वही फिर आपके भक्त बन आपकी पूजा करेंगे क्योंकि आपने उन आत्माओं के प्रति सेवा की तो सेवा का रिटर्न वह आपके जड़ चित्रों की सेवा करेंगे! पूजा करेंगे! 63 जन्म सेवा का रिटर्न आपको देते रहेंगे। बाप से तो मिलेगा ही लेकिन उन आत्माओं से भी मिलेगा। जिनको सन्देश देते हो और अधिकारी नहीं बनते हैं तो फिर वह इस रूप से रिटर्न देंगे। जो अधिकारी बनते वह तो आपके संबंध में आ जाते हैं। कोई संबंध में आ जाते। कोई भक्त बन जाते। कोई प्रजा बन जाते। वैराइटी प्रकार की रिजल्ट निकलती है। समझा! लोग भी पूछते हैं ना कि आप सेवा के पीछे क्यों पड़ गये हो। खाओ पियो मौज करो। क्या मिलता है जो इतना दिन-रात सेवा के पीछे पड़ते हो। फिर आप क्या कहते हो? जो हमको मिला है वह अनुभव करके देखो। अनुभवी ही जाने इस सुख को। यह गीत गाते हो ना! अच्छा।

सदा स्नेह में समाये हुए, सदा त्याग को भाग्य अनुभव करने वाले, सदा एक को पदमगुणा बनाने वाले, सदा बापदादा को फालो करने वाले, बाप को संसार अनुभव करने वाले ऐसे दिलतख्तनशीन बच्चों को दिलाराम बाप का यादप्यार और नमस्ते।

विदेशी भाई-बहिनों से पर्सनल मुलाकात

1) अपने को भाग्यवान आत्मायें समझते हो? इतना भाग्य तो बनाया जो भाग्यविधाता के स्थान पर पहुँच गये। समझते हो यह कौन-सा स्थान है? शान्ति के स्थान पर पहुँचना भी भाग्य है। तो यह भी भाग्य प्राप्त करने का रास्ता खुला। ड्रामा अनुसार भाग्य प्राप्त करने के स्थान पर पहुँच गये। भाग्य की रेखा यहाँ ही खींची जाती है। तो अपना श्रेष्ठ भाग्य बना लिया।

अभी सिर्फ थोड़ा समय देना। समय भी है और संग भी कर सकते हो। और कोई मुश्किल बात तो है नहीं। जो मुश्किल होता उसके लिए थोड़ा सोचा जाता है। सहज है तो करो। इससे जो भी जीवन में अल्प-काल की आशायें वा इच्छायें हैं वह सब अविनाशी प्राप्ति में पूरी हो जायेंगी। इन अल्पकाल की इच्छाओं के पीछे जाना ऐसे ही है जैसे अपनी परछाई के पीछे जाना। जितना परछाई के पीछे जायेंगे उतना वह आगे बढ़ती हैं, पा नहीं सकते। लेकिन आप आगे बढ़ते जाओ तो वह आपे ही पीछे-पीछे आयेंगी। तो ऐसे अविनाशी प्राप्ति के तरफ जाने वाले के पीछे विनाशी बातें सब पूरी हो जाती हैं। समझा! सर्व प्राप्तियों का साधन यही है। थोड़े समय का त्याग सदाकाल का भाग्य बनाता है। तो सदा इसी लक्ष्य को समझते हुए आगे बढ़ते चलो। इससे बुहत खुशी का खजाना मिलेगा। जीवन में सबसे बड़े ते बड़ा खजाना खुशी है। अगर खुशी नहीं तो जीवन नहीं। तो अविनाशी खुशी का खजाना प्राप्त कर सकते हो।

2) बापदादा बच्चों के सदा आगे बढ़ने का उमंग-उत्साह देखते हैं। बच्चों का उमंग बापदादा के पास पहुँचता है। बच्चों के अन्दर है कि विश्व के वी.वी.आई.पी. बाप के सामने ले जाऊं – यह उमंग भी साकार में आता जायेगा क्योंकि नि:स्वार्थ सेवा का फल जरूर मिलता है। सेवा ही स्व की स्टेज बना देती है इसलिए यह कभी नहीं सोचना कि सर्विस इतनी बड़ी है, मेरी स्टेज तो ऐसी है नहीं। लेकिन सर्विस आपकी स्टेज बना देगी। दूसरों की सर्विस ही स्व-उन्नति का साधन है। सर्विस आपेही शक्तिशाली अवस्था बनाती रहेगी। बाप की मदद मिलती है ना। बाप की मदद मिलते-मिलते वह शक्ति बढ़ते-बढ़ते वह स्टेज भी हो जायेगी। समझा! इसलिए यह कभी नहीं सोचो कि इतनी सर्विस मैं कैसे करूँगा/करूँगी, मेरी स्टेज ऐसी है। नहीं। करते चलो। बापदादा का वरदान है आगे बढ़ना ही है। सेवा का मीठा बंधन भी आगे बढ़ने का साधन है। जो दिल से और अनुभव की अथॉरिटी से बोलते हैं उनका आवाज दिल तक पहुँचता है। अनुभव की अथॉरिटी के बोल औरों को अनु-भव करने की प्रेरणा देते हैं। सेवा में आगे बढ़ते-बढते जो पेपर आते हैं वह भी आगे बढ़ाने का ही साधन हैं क्योंकि बुद्धि चलती है, याद में रहने का विशेष अटेन्शन रहता है। तो यह भी विशेष लिफ्ट बन जाती है। बुद्धि में सदा रहता कि हम वातावरण को कैसे शक्तिशाली बनायें। कैसा भी बड़ा रूप लेकर विघ्न आए लेकिन आप श्रेष्ठ आत्माओं का उसमें फायदा ही है। वह बड़ा रूप भी याद की शक्ति से छोटा हो जाता है। वह जैसे कागज का शेर। अच्छा!

वरदान:- दीपमाला पर यथार्थ विधि से अपने दैवी पद का आह्वान करने वाले पूज्य आत्मा भव
दीपमाला पर पहले लोग विधिपूर्वक दीपक जगाते थे, दीपक बुझे नहीं यह ध्यान रखते थे, घृत डालते थे, विधिपूर्वक आह्वान के अभ्यास में रहते थे। अभी तो दीपक के बजाए बल्ब जगा देते हैं। दीपमाला नहीं मनाते अब तो मनोरंजन हो गया है। आह्वान की विधि अथवा साधना समाप्त हो गई है। स्नेह समाप्त हो सिर्फ स्वार्थ रह गया है इसलिए यथार्थ दाता रूपधारी लक्ष्मी किसी के पास आती नहीं। लेकिन आप सभी यथार्थ विधि से अपने दैवी पद का आह्वान करते हो इस-लिए स्वयं पूज्य देवी-देवता बन जाते हो।
स्लोगन:- सदा बेहद की वृत्ति, दृष्टि और स्थिति हो तब विश्व कल्याण का कार्य सम्पन्न होगा।

TODAY MURLI 27 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 October 2017 :- Click Here

27/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to value this study a great deal. If you are ill or even about to die, you must still sit in class. It is said that you should leave your body with the nectar of knowledge on your lips.
Question: When and how do children become instrumental in turning others away from the Father?
Answer: When those who sulk with brothers and sisters stop studying and become those who defame the Guru, many others who see them also turn away from the Father. Today, they may be studying well but, tomorrow, they stop studying and they therefore cannot tell others to study. Such children deprive themselves of a high status.
Song: The Flame has ignited in the happy gathering for the moths.

Om shanti. You children have understood the meaning of the song. Those who composed the song don’t know its meaning. They have written so many Vedas, scriptures, Upanishads etc. but not a single person knows the accurate meaning of them. Because of not knowing the accurate meaning of them, they continue to waste time and money. The Father explains: You have built many temples and written many Vedas, Upanishads etc. You have had sacrificial fires and done a lot of chanting and tapasya. You spent so much money! Who is the Father explaining all of this to? To those who have died alive and now belong to the Father. You now belong to the Father, which means that you have died alive. So, you now have to make preparations to go back with the Father. It isn’t that people will celebrate your birthday or anniversary there. Here, people celebrate the anniversary of Gandhiji with so much splendour. It isn’t that Shiv Baba will go away having given you knowledge and that you will then celebrate His birthday in the golden age; no. For half the cycle, you won’t celebrate anniversaries or hold any ceremonies for those who leave their bodies. Cows won’t be donated; departed spirits will not be fed. Donations are made so that a return is received in the next birth. However, in the golden age, you experience the reward of this time. Therefore, there is a difference between the customs and systems of devotion and the customs and systems of knowledge. Those who have broad intellects will be able to understand these things. Those who had broad intellects in the previous cycle will have broad intellects now because they have to play those same part s again. You heard in the song how you went around in all directions and how you still remained distant. The Father says: You beat your heads so much on the path of devotion, and yet you were unable to meet Me because you can only meet Me when I come. I only come at the confluence age of every cycle. People say that God comes in every age. They then say that God has 24 incarnations. Therefore, that is wrong. People call out to Me: O Purifier, come! Come and make us impure ones pure. So, your war is now with Maya, Ravan. You don’t have a physical war. You conquer Ravan. Who is the main warrior in that? Lust. So you have to conquer that vice, that is, you have to become pure. When you become pure yourselves, you also have to make your children pure so that they too can become the masters of the world. If you give them an inheritance now, what would you give them? You would only give them things of clay. OK, look at America: what is that now? It is nothing but pebbles and stones because everything is now to be destroyed. Look how people die! When there are snowstorms on the mountains, all the birds etc. die. Therefore, the storms of bombs will be same. People everywhere will continue to die like swarms of insects. You know that you will see how everyone dies. Look how many people die in a war. Death is over everyone’s head here. In the golden age, there is no fear of death because there is no untimely death there. The Father is sending you to such a world. Therefore, you should follow the shrimat of such a Father. He is the Supreme Teacher and so you children have to pay full attention to the study. There are many who don’t value the study at all. For instance, if someone is very ill and about to die, he too should be brought to class. It is said that when someone dies, he should have the nectar of knowledge on his lips, that he should be on the banks of the River Ganges etc., and then he should leave his body. So, there should be that much regard for the study. If, in desperate circumstances, you cannot take someone to class, you should make that person remember Shiv Baba at home. However, children don’t pay full attention to the study. Baba says: Bring your register , so that I can know how much each one is studying and to what extent. Baba asks if each of you is studying and whether you are also teaching others, because it is only in this business that an income is earned. All other businesses are like dust. Those brahmin priests have the scriptures under their arms whereas you have the truth. You are establishing the land of truth. You have a huge responsibility and this is why you have to remain cautious. It requires effort to study and teach others. It isn’t that you just have to study. You are those on the family path. You may do your housework for eight hours. The Government has a law that you have to work for eight hours. In earlier days, when the steamers used to arrive at night, shopkeepers would keep their shops open all night. You have to become free from your housework and engage yourselves in this service. The Government itself teaches you how to do service. The Government feeds people, so people also have to serve it. Here, too, the Father teaches you and so you have to do Godly Service. It isn’t only service. If it were only service, that would be a matter of the intellect to make the self pure. However, we have to make Bharat into heaven. So you have a huge responsibility, just as the other army has a responsibility. The Commander in Chief, the c aptain s etc. have the most responsibility. It is the same here. The good children who open centres are the commanders and so they have a responsibility. So, each of you has to look at yourself and see whether, instead of doing service, you are doing disservice. There are many children who sulk with brothers and sisters and then stop studying. They don’t understand that, by stopping their study, they will be those who defame the Guru and won’t be able to attain a high status, that is, they won’t be able to claim a high status in the golden age. The Father asks for the register of the children because He understands everything from that, just as in a school the father and teacher understand everything from the register how much the child is studying. Some children continue to play throughout the day, and then, when school finishes, they go back home and say that they have just been to school to study. The parents of some children don’t even look at the register of their children, and so they aren’t aware of anything. Some parents pay attention so that the children study well. Here, Shiv Baba is Antaryami (the One who knows everything inside you). The register has to be shown to the corporeal one. Children say: Baba, such storms come! Baba says: These storms will come. All of these storms first come to me otherwise how could I explain them to you children if I haven’t experienced them? OK, Maya distressed you the whole night and you weren’t even able to sleep. That was time wasted. That is also her duty; she will definitely create conflict. However, it is your duty to remember Baba just as much and chase Maya away. Some children are such that they leave when even a little Maya comes to them. Herbalists say that when you take a particular medicine, there will be a reaction to the illness. However, some people are such that when the illness reacts even slightly to the medicine of a particular herbalist, they would leave him and go to another. It is the same here: they leave knowledge and go to the sages and holy men. Then they say: Everyone else says that you have to live at home with the family and get married whereas you tell us to get married but remain pure. What kind of difficulty is this? Oh! but you are saying that you want to live at home and claim liberation and liberation-in-life like King Janak. Therefore, you have to remain pure at home. Some say that this is right, but that the destination is too high; they say this and become afraid. You have to go high. It is also shown in the Dilwala Temple how you are doing tapasya down below and how there is the reward of heaven above you. Therefore, the destination is high anyway. It is said: When you climb, you taste the sweetness of love, that is, the sweetness of heaven. If you fall, you are completely crushed. This is why you have to move along with great caution; you mustn’t be afraid. They say that this is the authority of the Gita. There are many Gitas nowadays. There is the Tagore Gita, the Gandhi Gita, etc. Whoever sulks with members of their home go and extract a meaning from the Gita and write it with their name. In one Gita, it is written: This will happen if you eat aubergines. This will happen if you eat ladies’ fingers (okra vegetable). Baba also used to study the Gita every day. Wherever he went, even if he went to a king, he definitely used to study the Gita before going. Some people think that devotees do not cheat. However, no one cheats as much as devotees do. Therefore, Baba says: Children, don’t stop studying! Otherwise, Maya, the alligator, will eat you and you will then have to repent. In the land of Dharamraj, when you have visions of each and every birth and experience punishment, don’t even ask what it’s like! No human being knows about liberation or liberation-in-life because they believe that happiness is like the droppings of a crow. So they believe that the happiness of heaven will also be like that because they have heard that Rama’s Sita was abducted in the silver age, and so that too is sorrow. You now understand that such things don’t take place in heaven. This is a story of just Bharat. All other religions are just by-plots in this drama. It is the people of Bharat who take 84 births. Those of other religions do not take 84 births. It is said: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long period of time. No one knows the meaning of that. They continue to sing that, but they don’t understand anything. This Brahma was also a beggar. He also adopted many gurus, but all of that was cheating. This is why the Father says: Renounce all religions. However, people don’t understand the meaning of that. Although people read the Gita, they are like wild parrots. You are those who learn everything and will be threaded in the rosary of victory. What do the people of the world know of these things? If you give them literature, they just throw it away. What do those people know about these jewels of knowledge? You children, who belonged to the deity religion in the previous cycle, have now become Brahmins. Those who become deities now will become deities every cycle, numberwise, according to the effort they make now. Others cannot become deities. The sapling is being planted. That Government plants sapling s of thorns. Here, the Pandava Government is planting the sapling of the deity religion. There is so much difference! This old world will be destroyed when the sapling of the deity religion has been planted. You can see the signs of destruction, of how the war between the Yavanas and the Kauravas is to take place according to the dramaNothing new ! It is not anything new. Why else would it be said that rivers of blood will flow? The Hindus will not fight among themselves. This is the war of the Yavanas and the Kauravas and we are also at war. We are at war! There, too, the commander continues to make sure that the war is continuing well and whether there are any traitors. There is severe punishment for traitors. It is the same here. If someone belongs to the Father and then becomes a traitor, he receives severe punishment in the land of Dharamraj. Children have also had visions. When someone sacrifices himself at Kashi, he experiences punishment for the sins of many births. Then, in his next birth, he begins to perform actions anew. No one can go into liberation. They say that so-and-so went beyond to the land of nirvana. However, no one can go there. They call out to the Father: Purifier, come! The Bestower of Salvation for All is only the One. This is something to be understood. When the Father comes, He grants salvation and liberation to many. God has now issued an ordinance to become pure. People ask: How would the world then continue? Oh, but you are saying that there isn’t enough to eat and that there should be fewer people and then you ask how the world would continue! You children have to explain very well. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While looking after your household, you still definitely have to make time to do spiritual service. Consider yourself to be responsible for increasing service. Don’t do any disservice.
  2. The One who is teaching you is the Supreme Teacher Himself. Therefore, you definitely have to value this study a great deal. Under no circumstances should you miss this study.
Blessing: May you be full of the eight powers and make your stage elevated according to the time and the situation.
The children who are full of the eight powers use every power according to the time and the situation in every action. The eight powers make them one of the eight and a specially beloved deity. Souls who are full of the eight powers easily make their stage according to the time and the situation. Success is merged in their every step. No situation can bring them down from their elevated stage.
Slogan: “Whatever actions I perform, others who see me will do the same”. Constantly keep this slogan in your awareness and your actions will be elevated.

 

Read Murli 25 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 26 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
27/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें पढ़ाई का बहुत कदर रखना है। बीमार हो, मरने पर भी हो तो भी क्लास में बैठो, कहा जाता ज्ञान अमृत मुख में हो तब प्राण तन से निकले”
प्रश्नः- कई बच्चे भी बाप से बेमुख करने के निमित्त बन जाते हैं – कब और कैसे?
उत्तर:- जो आपस में भाई-बहनों से रूठकर पढ़ाई छोड़ देते हैं और गुरू के निंदक बन जाते हैं, उन्हें देख अनेक बाप से बेमुख हो जाते। आज अच्छा पढ़ते कल पढ़ाई छोड़ देते तो दूसरों को कह न सकें कि तुम पढ़ो। ऐसे बच्चे ऊंच पद से वंचित हो जाते हैं।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा….

ओम् शान्ति। गीत का अर्थ बच्चों ने समझा – जिन्होंने यह गीत बनाया है, वह उनका अर्थ नहीं जानते। देखो कितने वेद, शास्त्र, उपनिषद बनाये हैं, परन्तु एक भी यथार्थ अर्थ को नहीं जानते। यथार्थ अर्थ न जानने के कारण वेस्ट आफ टाइम, वेस्ट आफ मनी करते हैं। बाप समझाते हैं तुमने बहुत-बहुत मन्दिर, वेद, उपनिषद आदि बनाये हैं। यज्ञ-जप-तप किये हैं। कितना पैसा खर्च किया है। यह बाप किसको समझाते हैं, जो जीते जी मरकर बाप के बनते हैं। तो तुम बाप के बने हो तो गोया जीते जी मरे हुए हो। तो अब बाप के साथ चलने की तैयारी करनी है। यह नहीं कि वहाँ तुम्हारी कोई बर्थ डे या बरसी आदि मनायेंगे। यहाँ गाँधी की कितने धूमधाम से मनाते हैं। ऐसे नहीं कि शिवबाबा ज्ञान देकर चला जायेगा तो फिर तुम सतयुग में उनकी जयन्ती मनायेंगे, नहीं। आधाकल्प जो भी शरीर छोड़ेंगे तो उनकी बरसी, क्रियाक्रम नहीं करेंगे। गऊदान करना, पित्रों को खिलाना, आदि नहीं होगा क्योंकि दान किया जाता है कि दूसरे जन्म में मिले। सतयुग में तुम इस समय की प्रालब्ध खाते हो। तो भक्ति की रसम-रिवाज और ज्ञान की रसम-रिवाज में अन्तर है। जो भी विशालबुद्धि वाले हैं वह इन बातों को समझेंगे और जो कल्प पहले विशालबुद्धि बने होंगे वही अब बनेंगे क्योंकि फिर से वही पार्ट बजाना है।

गीत सुना चारों तरफ लगाये फेरे.. फिर भी हरदम दूर रहे.. बाप कहते हैं तुमने भक्ति मार्ग में कितना माथा मारा है फिर भी मुझसे मिल न सके क्योंकि जब मैं आऊं तब तो मुझे मिल सको। मैं आता ही हूँ कल्प-कल्प संगमयुग पर। लोग कह देते हैं कि परमात्मा युगे-युगे आता है। फिर कहते हैं परमात्मा के 24 अवतार हैं। तो यह रांग है ना। मुझे बुलाते हैं कि पतित-पावन आओ, आकर पतितों को पावन बनाओ। तो अब तुम्हारी युद्ध है माया रावण से। तुम्हारी कोई स्थूल युद्ध नहीं है। तुम रावण पर जीत पाते हो। उसमें भी मुख्य योद्धा कौन है? काम। तो इस विकार पर जीत पानी है अर्थात् पवित्र बनना है। जब खुद पवित्र बनते हो तो बच्चों को भी पवित्र बनाना पड़े, ताकि वह भी विश्व के मालिक बन जायें। अगर अभी तुम उन्हों को वर्सा देंगे तो क्या देंगे? ठिक्कर ठोबर देंगे। अच्छा देखो – अमेरिका है, वह क्या है? ठिक्कर ठोबर है क्योंकि अब सब खत्म होना है। अब देखो मरेंगे कैसे? जैसे पहाड़ों पर जब बर्फ का तूफान आता है तो पंछी आदि सब खत्म हो जाते हैं। तो यह बाम्बस के तूफान भी ऐसे हैं। एकदम मरते रहेंगे मच्छरों सदृश्य। तुम जानते हो कि हम देखेंगे कि कैसे सब मर रहे हैं। लड़ाई में देखो कितने मरते हैं। यहाँ मौत सबके सिर पर है। सतयुग में मौत का भी डर नहीं क्योंकि वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होता। तो बाप ऐसी दुनिया में ले जाते हैं। तो ऐसे बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। यह सुप्रीम टीचर भी है, तो बच्चों को पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना चाहिए। बहुत हैं जिनको पढ़ाई का कदर नहीं है। समझो कोई सख्त बीमार है, मरने पर है, उसको भी क्लास में ले आना चाहिए। कहते हैं ज्ञान अमृत मुख में हो, गंगा का तट हो…. तब प्राण तन से निकले। तो पढ़ाई का इतना कदर होना चाहिए। अगर लाचारी हालत में क्लास में नहीं ले जा सकते हो तो उनको घर में भी शिवबाबा याद कराना चाहिए। परन्तु पढ़ाई पर बच्चों का पूरा ध्यान नहीं है। बाबा कहते हैं रजिस्टर ले आओ तो मुझे मालूम पड़ेगा कि कहाँ तक कौन पढ़ता है, और बाबा पूछते भी हैं यह खुद पढ़ता औरों को पढ़ाता है? क्योंकि इसी धन्धे में ही कमाई है। बाकी सब धन्धों में है धूल। उन ब्राह्मणों के कच्छ में है कुरम, तुम्हारे पास है सच। तुम सचखण्ड की स्थापना कर रहे हो। तुम्हारे ऊपर बड़ी जवाबदारी है, इसलिए खबरदारी रखनी है। मेहनत है, पढ़ना और पढ़ाना है। ऐसे नहीं सिर्फ पढ़ना है। तुम प्रवृत्ति मार्ग वाले हो, 8 घण्टा भल घर का काम करो। गवर्मेन्ट भी कायदा निकालती है कि 8 घण्टा काम करो। आगे तो जब स्टीम्बर बाहर से रात को आते थे तो सारी-सारी रात भी दुकान खोलकर काम करते थे। तुमको भी घर के काम से फारिग हो फिर इस सर्विस में लग जाना है। सर्विस करना गवर्मेन्ट खुद सिखलाती है। खिलाती, पिलाती है तो उनकी सर्विस भी करते हैं। यहाँ भी तुमको बाप सिखलाते हैं तो तुमको आन गॉडली सर्विस करनी है। सिर्फ ओनली सर्विस नहीं। ओनली हो गई सिर्फ अपनी बुद्धि की, खुद को पवित्र बनाना। परन्तु हमको तो भारत को स्वर्ग बनाना है। तो तुम्हारे ऊपर बहुत जिम्मेवारी है। जैसे उस सेना पर जिम्मेवारी रहती है। चीफ कमान्डर, कैप्टन आदि पर अधिक जवाबदारी रहती है। यहाँ भी ऐसे हैं। जो अच्छे-अच्छे बच्चे सेन्टर खोलते हैं वह हो गये कमान्डर। तो उन पर जवाबदारी है। तो यह हर एक को देखना है कि हम सर्विस के बजाए कहाँ डिससर्विस तो नहीं करते हैं। बहुत बच्चे हैं जो भाई-बहिनों से रूठकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। यह नहीं समझते कि पढ़ाई छोड़ने से गुरू के निंदक ठौर नहीं पा सकेंगे अर्थात् सतयुग में ऊंच पद नहीं मिलेगा। यहाँ बाप बच्चों का रजिस्टर मंगाते हैं, उससे समझ जाते हैं। जैसे स्कूल में बाप, टीचर रजिस्टर से समझ जाते हैं कि यह बच्चा कहाँ तक पढ़ता होगा! कई बच्चे होते हैं जो सारा दिन खेलते रहते हैं और छुट्टी के टाइम पर घर आ जाते हैं कि हम पढ़कर आये हैं। किन्हों के माँ बाप तो रजिस्टर भी नहीं देखते, तो उन्हों को मालूम भी नहीं पड़ता। किन्हों के माँ-बाप ध्यान में रखते हैं तो बच्चा अच्छी तरह पढ़ जाये। यहाँ शिवबाबा अन्तर्यामी है। साकार को रजिस्टर दिखाना पड़े। बच्चे कहते हैं बाबा ऐसे तूफान आते हैं। बाबा कह देते हैं कि यह तूफान तो आयेंगे। यह सब तूफान पहले मेरे पास ही आते हैं क्योंकि जब तक इनको अनुभव न हो तो बच्चों को कैसे समझा सकें। अच्छा तुमको माया ने सारी रात हैरान किया, नींद भी नहीं करने दी, टाइम भी वेस्ट किया! यह भी उनका फर्ज है, टकरायेगी जरूर। बाकी तुम्हारा काम है बाप को इतना ही याद कर माया को भगाना। कई बच्चे हैं जो थोड़ी भी माया आती है तो चले जाते हैं, जैसे वैद्य लोग कह देते हैं यह दवाई लेने से बीमारी उथलेगी। परन्तु कई लोग ऐसे होते हैं जो जरा सी बीमारी ने उथल खाई तो उस वैद्य को छोड़ दूसरे के पास चले जाते हैं। यहाँ भी ऐसे हैं। ज्ञान को छोड़ साधू सन्तों के पास चले जाते हैं। फिर कहते हैं कि सब तो कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहो, शादी करो। आप कहते हो शादी करके पवित्र रहो। यह फिर कौन सी मुसीबत है! अरे तुम कहते हो हमको गृहस्थ व्यवहार में रह राजा जनक के मुआफिक जीवनमुक्ति चाहिए, तो फिर प्रवृत्ति में पवित्र रहना पड़े। कई फिर कह देते बात तो ठीक है। बाकी मंजिल ऊंची है। ऐसा कह डर जाते हैं। ऊंच तो जाना ही है ना। देलवाड़ा मन्दिर में भी है कि नीचे तपस्या कर रहे हैं, ऊपर में उनकी प्रालब्ध स्वर्ग है। तो ऊंच मंजिल तो है ही। कहते हैं ना कि चढ़े तो चाखे प्रेम रस… यानी बैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर, इसलिए बड़ी सावधानी से चलना पड़ता है। डरना नहीं है।

कहते हैं यह गीता की अथॉरिटी है। गीतायें तो आजकल बहुत हैं। टैगोर गीता, गाँधी गीता आदि… आजकल जो घर से रूठते वह गीता का अर्थ कर देते और अपना नाम डाल देते हैं। एक गीता में लिखा है कि बैगन खाने से यह होगा, भिण्डी खाने से यह होगा….. यह बाबा भी रोज़ गीता का पाठ करते थे। जहाँ भी जाते थे, राजाओं के पास भी जाते थे तो गीता का पाठ जरूर करते थे। मनुष्य समझते हैं भगत ठगत नहीं होते। परन्तु जितना भगत ठगते हैं, उतना कोई नहीं। तो बाबा कहते हैं – बच्चे पढ़ाई को नहीं छोड़ना। नहीं तो माया अजगर खा जायेगी फिर पछताना पड़ेगा। जब धर्मराजपुरी में एक-एक जन्म का साक्षात्कार करते सजायें खाते हैं तो बात मत पूछो। मुक्ति और जीवनमुक्ति को तो कोई मनुष्य जानते ही नहीं क्योंकि वह समझते हैं कि सुख काग विष्टा समान है। तो समझते हैं कि स्वर्ग के सुख भी ऐसे होंगे क्योंकि सुना है कि त्रेतायुग में भी सीता चुराई गई तो वह भी दु:ख है। अब तुम जानते हो कि स्वर्ग में ऐसी बातें होती नहीं। यह भारत की ही कहानी है। बाकी और धर्म वाले इस ड्रामा के अन्दर बाईप्लाट हैं। भारतवासियों के ही 84 जन्म हैं और धर्म वाले तो 84 जन्म नहीं लेते। कहते हैं आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल.. अब इस अर्थ को नहीं जानते हैं। गाते ही रहते हैं, जानते तो कुछ भी नहीं। यह ब्रह्मा भी बेगर था ना, इसने भी बहुत गुरू किये हुए थे। परन्तु है सब ठगी। तब तो बाप कहते हैं ना सर्व धर्मानि परितज्य… वह इसका अर्थ थोड़ेही जानते हैं। भल गीता पढ़ते हैं परन्तु जैसे जंगली तोते। तुम कण्ठी वाले बन विजय माला में पिरो जायेंगे। दुनिया वाले इन बातों को क्या जानें। उन्हों को अगर तुम लिटरेचर दो तो फेंक देते हैं। वे लोग क्या जाने ज्ञान रत्नों को। तुम बच्चे जो कल्प पहले देवता धर्म के थे, अब वही ब्राह्मण बने हो। जो अब देवता बनेंगे वही कल्प-कल्प नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार देवता बनेंगे और तो देवता बन न सकें। यह सैपलिंग लग रहा है ना। वह गवर्मेन्ट तो कांटों का सैपलिंग लगाती है। यहाँ पाण्डव गवमेन्ट देवता धर्म की सैपलिंग लगाते हैं। कितना फ़र्क है। जब देवता धर्म का सैपलिंग पूरा होगा तब ही इस पुरानी दुनिया का विनाश होगा। तो विनाश के आसार तुम देख ही रहे हो कि कैसे यौवनों और कौरवों की लड़ाई लगनी है, ड्रामानुसार, नथिंगन्यु। कोई नई बात नहीं है। नहीं तो क्यों कहा कि रक्त की नदियां बहेंगी। कोई हिन्दू थोड़ेही आपस में लड़ेंगे। यह वार ही है यौवनों और कौरवों की और हम भी इस युद्ध पर हैं। वी आर एट वार। जैसे वहाँ भी कमान्डर देखते रहते हैं ना कि लड़ाई ठीक तरह चल रही है वा नहीं। कोई ट्रेटर तो नहीं है! ट्रेटर के लिए बड़ी भारी सजा होती है। तो यहाँ भी ऐसे हैं। अगर कोई बाप का बनकर ट्रेटर बन जाते हैं तो धर्मराजपुरी में बहुत भारी सजा मिलती है। बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है। जब काशी कलवट खाते हैं, बलि चढ़ते हैं तो उस समय अनेक जन्म के पापों की सजा भोगते हैं। फिर दूसरे जन्म में नयेसिर से कर्म शुरू करते हैं। मुक्ति में तो कोई जाते नहीं। कहते हैं फलाना पार निर्वाण गया। परन्तु जाता तो कोई भी नहीं। बाप को बुलाते हैं – पतित-पावन आओ। सर्व का सद्गति दाता एक ही है। यह तो समझ की बात है ना। बाप आते हैं तो कईयों को गति सद्गति दे जाते हैं। परमात्मा ने अब आर्डीनेन्स निकाला है कि पवित्र बनो। कहते हैं कि दुनिया कैसे चलेगी। अरे तुम कहते हो खाने के लिए नहीं है, प्रजा कम होनी चाहिए फिर कहते हो दुनिया कैसे चलेगी! तुम बच्चों को अच्छी रीति समझाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) घर का काम करते भी समय निकाल रूहानी सेवा जरूर करनी है। अपने को सर्विस बढ़ाने का जिम्मेवार समझना है। डिससर्विस नहीं करनी है।

2) पढ़ाने वाला स्वयं सुप्रीम टीचर है इसलिए पढ़ाई का बहुत-बहुत कदर रखना है। किसी भी हालत में पढाई मिस नहीं करनी है।

वरदान:- समय और परिस्थिति प्रमाण अपनी श्रेष्ठ स्थिति बनाने वाले अष्ट शक्ति सम्पन्न भव 
जो बच्चे अष्ट शक्तियों से सम्पन्न हैं वो हर कर्म में समय प्रमाण, परिस्थिति प्रमाण, हर शक्ति को कार्य में लगाते हैं। उन्हें अष्ट शक्तियां इष्ट और अष्ट रत्न बना देती हैं। ऐसे अष्ट शक्ति सम्पन्न आत्मायें जैसा समय, जैसी परिस्थिति वैसी स्थिति सहज बना लेती हैं। उनके हर कदम में सफलता समाई रहती है। कोई भी परिस्थिति उन्हें श्रेष्ठ स्थिति से नीचे नहीं उतार सकती।
स्लोगन:- ”जो कर्म हम करेंगे हमें देख और करेंगे” – यह स्लोगन सदा स्मृति में रहे तो कर्म श्रेष्ठ हो जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 25 October 2017 :- Click Here
Font Resize