daily murli 27 january

TODAY MURLI 27 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

27/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never take the law into your own hands. If someone makes a mistake, report it to the Father and the Father will caution that soul.
Question: What contract does the Father have?
Answer: Only the one Father has the contract of removing the children’s defects. When the Father hears of the children’s weaknesses, He explains to them with love to help them remove them: If you children see anyone’s weakness, don’t take the law into your own hands. It is a mistake to take the law into your own hands.

Om shanti. Sweetest, spiritual children, you come to the Father in order to be refreshed because you children know that you have to claim your sovereignty of the unlimited world from the unlimited Father. You should never forget this. However, you do forget it; Maya makes you forget it. If she didn’t make you forget, you would have great happiness. The Father explains: Children, repeatedly continue to look at your badge. Also look at the pictures again and again. While walking and moving around in remembrance of the Father, continue to look at your badge and you will understand that that is what you are becoming. You also have to imbibe divine virtues. This is the time to receive knowledge. The Father says: Sweetest children! Day and night, He continues to say: Sweet children. Children do not say: Sweetest Baba. In fact, you should say this to both; both are sweet, are they not? Unlimited BapDada. Those who are body conscious simply say to Baba: Sweet, sweet Baba. Some children even say things to BapDada out of anger. When you say it to Dada you also say it to the Father; it is the same thing. Sometimes, they become upset with their teacher and sometimes with one another. Therefore, the unlimited Father sits here and gives you children teachings. There are many children in all the villages. He continues to write to everyone: I have received a report about how you become very angry. The unlimited Father calls this body consciousness. The Father tells everyone: Children, become soul conscious! All of the children continue to fluctuate. In this, Maya battles with those whom she recognizes as powerful and strong. Hanuman has been portrayed as Mahavir (brave warrior). They tried to shake him. It is at this time that she tests everyone. Everyone has victory and defeat with Maya. In this war, there is remembrance and forgetfulness. You each claim a good status according to how much you stay in remembrance or how constantly you make effort to remember the Father. The Father has come to teach you children and He continues to teach you. You have to continue to follow shrimat. It is only by following shrimat that you will become elevated. There is no question of becoming upset with anyone in this. To become upset means to become angry. If someone makes a mistake, report it to Baba. You shouldn’t take it upon yourself to tell anyone. That is like taking the law into your own hands. The Government doesn’t allow anyone to take the law into his own hands. If someone punches another person, he isn’t punched in retaliation; he is reported and a case is filed against him. Here, too, you children should never answer back to anyone. Simply tell Baba. Only the one Baba will caution everyone. Baba will show you a very sweet method. He will give you teachings with great sweetness. By becoming body conscious, you reduce your own status. Why should you create a loss for yourself? As much as possible, continue to remember Baba with a lot of love. Remember with a lot of love the unlimited Father who gives you the sovereignty of the world. You simply have to imbibe divine virtues. Never defame anyone. Do deities defame anyone? Some children can’t stop defaming others. Tell the Father and He will explain to them with a lot of love. Otherwise, time is wasted. Instead of defaming others, it is better for you to remember the Father so that you benefit a great deal. It is not very good to argue with anyone. The hearts of you children understand that you are establishing the sovereignty of the new world. You should have so much spiritual intoxication inside you. The main things are remembrance and divine virtues; you children remember the cycle anyway. You can easily remember that. There is the cycle of 84 births. You know the beginning, the middle, the end and the duration of the cycle. You have to give everyone the introduction with a lot of love. The unlimited Father is making us into the masters of the world. He is teaching us Raj Yoga. Destruction is just ahead. It is now the confluence age when the new world is established and the old world destroyed. The Father continues to caution you children. By staying in remembrance, you receive happiness and all the sorrow and pain of your bodies is removed; it will be removed for half the cycle. The Father establishes the land of happiness. After that, Maya, Ravan then establishes the land of sorrow. You children understand, numberwise, according to your efforts. The Father has so much love for you children. The Father has loved you from the beginning. The Father understands that you children became ugly by sitting on the pyre of lust. Therefore, He comes to make you beautiful. The Father is knowledge-full. You children receive knowledge little by little. Maya then makes you forget it. She doesn’t allow you to remain happy. Day after day, let the mercury of the happiness of you children remain constantly high. In the golden age your mercury was very high. You now have to make it rise high with the pilgrimage of remembrance. That will only go high gradually. While experiencing victory and defeat, you children will attain your status as you did in the previous cycle, numberwise, according to the efforts you make. However, it will take the same time as it does every cycle. Only those who passed in the previous cycles will pass again. BapDada continues to observe the stages of you children as the detached Observer and continues to explain to you. The children who go to other centres aren’t refreshed as much. After going to the centre they go back into the outside atmosphere and this is why, in order to become refreshed, children come here. The Father still writes: Give My love and remembrance to everyone in the family. Those fathers are limited whereas that One is the unlimited Father. Both Bap and Dada have a lot of love because they do very lovely service every cycle and they do it with a lot of love. They feel a lot of mercy inside. When you don’t study and you don’t follow shrimat and your behaviour isn’t good, Baba feels mercy: you will only claim a low status. What else could Baba do? There is a lot of difference between living there and living here. However, not everyone can stay here. The number of children continues to grow. Arrangements also continue to be made. Baba has also explained to you that Abu is the greatest pilgrimage place. The Father says: I come here and make the whole world, including the five elements, pure. There is so much service to be done. Only the one Father comes and grants salvation to everyone. He has done this countless times before. Even though you know this, you forget it, and this is why the Father says that Maya is very powerful. Her kingdom continues for half the cycle. Maya defeats you and then the Father makes you stand up again. Many write to Baba: Baba, I have fallen. Baba replies: Achcha, don’t fall again! Nevertheless, they continue to fall. When they fall, they stop climbing up again; they become badly hurt. Everyone becomes hurt. Everything depends on the study. Yoga is included in the study. “So-and-so is teaching me this.” You now understand that the Father is teaching you; you become very refreshedhere. It is sung: Consider those who defame you to be your friends. God speaks: So many defame Me! I come and become their Friend. They defame Me so much and yet I consider all of them to be My children! I have so much love for them. It isn’t good to defame anyone. You have to be very cautious at this time. You children have various stages because you all continue to make effort. When a mistake is made, make effort to become free from that mistake. Maya makes everyone make mistakes. This is a boxing match; sometimes, you are hurt in such a way that you fall. The Father continues to caution you: Children, when you are defeated in this way, whatever you have studied will be wiped out. You fall from the fifth floor. They say: Baba, I will never make such a mistake again. Please forgive me! How can Baba forgive you? The Father says: Make effort! Baba knows that Maya is very powerful. She defeats many. It is the Teacher’s duty to teach you about mistakes and make you free from mistakes. It isn’t that once someone makes a mistake he would continue to do that all the time; no. Virtues are remembered; mistakes are never remembered. Only the one Father is the Eternal Herbalist. He will give you medicine. Why do you children take the law into your own hands? Those who have a trace of anger in them will continue to defame others. It is the Father’s duty to reform everyone. They are not those who are going to reform others. Some have the evil spirit of anger in them. When they defame others, it is like taking the law into their own hands; they won’t be reformed by that. In fact, there will be conflict and they will become like salt and water. The Father is sitting here for all of you children. It is a big mistake to take the law into your own hands and defame others. Everyone has one weakness or another. As yet, none of you has become perfect. Some have a certain defect and others have another defect. The Father has this contract of removing those. This is not your duty. When the Father hears of the children’s defects, He explains with a lot of love in order to remove them. As yet, no one has become perfect. Everyone is being reformed on the basis of shrimat. You will become perfect by the end. At this time, all of you are effort-makers. Baba remains constantly unshakeable. He continues to teach you children with a lot of love. It is the Father’s duty to teach you. Then, whether you follow that or not, it is your fortune. Otherwise, your status is reduced so much. By not following shrimat and performing such actions, your status is destroyed. Then, because you made that mistake, your conscience bites you. You will have to make a lot of effort. If anyone has a defect you should tell the Father. To tell many others is body consciousness. Such ones don’t remember the Father. You have to become unadulterated. If you just tell the One, that soul can then be reformed. Only the one Father reforms everyone. All the rest are unreformed. However, Maya is such that she puts your head in a spin. The Father turns your face in one direction and Maya then spins you around and makes you face in her direction. The Father has come to reform you and to change you from ordinary human beings into deities. It is unlawful to defame someone’s name at every door (to everyone). You must just remember Shiv Baba. He gives the judgement. Only the Father gives the fruit of action. Although this is fixed in the drama, there would be someone’s name mentioned. The Father continues to explain everything to you children. You are so fortunate. So many guests come. Those who receive many guests are very happy. You are children and you are also guests. The Teacher only has this concern in His intellect: I have to make the children full of all virtues like them. According to the dramaplan, the Father has this contract. You children must never miss a murli. It is the murli that is remembered. If you miss a murli, it is like being absent from school. This is the school of the unlimited Father. You mustn’t miss this for even a day. The Father comes and teaches you. No one in the world understands this. No one even understands how heaven is established. You understand everything. This study enables you to earn a lot of income. You receive the fruit of this study for birth after birth. Everything of destruction is connected with your study. As soon as you have completed your study, the war will begin. After studying and remembering the Father, you will take the examination and receive full marks and the war will then begin. When your study comes to an end, the war will begin. This is completely new knowledge for the new world and this is why poor, helpless people are confused. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never defame anyone when you see their defects. Don’t speak of anyone’s defects everywhere. Never let go of your sweetness. Never become angry or oppose anyone.
  2. Only the one Father reforms everyone. Therefore, tell everything to the one Father and become unadulterated. Never miss a murli.
Blessing: May you be an embodiment of dharna who makes the offering of the consciousness of “I” of body consciousness into the sacrificial fire.
When there isn’t the consciousness of “I” in your thoughts or dreams, when you have the awareness of your eternal soul-conscious form, when the soundless chant “Baba, Baba” continues to emerge, you would then be said to be an embodiment of dharna, a true Brahmin. When you Brahmins sacrifice the consciousness of “I”, that is, your old nature and sanskars of this world into this great sacrificial fire, this old world will then be sacrificed. So, just as you were instruments to create this sacrificial fire, in the same way, now make the final offering and become instruments for its completion.
Slogan: To claim the certificate of contentment from oneself, from service and from everyone is to become an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

27-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – कभी भी अपने हाथ में लॉ नहीं उठाओ, यदि किसी की भूल हो तो बाप को रिपोर्ट करो, बाप सावधानी देंगे”
प्रश्नः- बाप ने कौन सा कान्ट्रैक्ट (ठेका) उठाया है?
उत्तर:- बच्चों के अवगुण निकालने का कान्ट्रैक्ट एक बाप ने ही उठाया है। बच्चों की खामियां बाप सुनते हैं तो वह निकालने के लिए प्यार से समझानी देते हैं। अगर तुम बच्चों को किसी की खामी दिखाई देती है तो भी तुम अपने हाथ में लॉ नहीं उठाओ। लॉ हाथ में लेना यह भी भूल है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे आते हैं बाप से रिफ्रेश होने क्योंकि बच्चे जानते हैं – बेहद के बाप से बेहद विश्व की बादशाही लेनी है। यह कभी भूलना नहीं चाहिए परन्तु भूल जाते हैं। माया भुला देती है। अगर न भुलावे तो बहुत खुशी रहे। बाप समझाते हैं – बच्चों, इस बैज को घड़ी-घड़ी देखते रहो। चित्रों को भी देखते रहो। घूमते-फिरते बैज को देखते रहो तो पता पड़े, बाप द्वारा बाप की याद से हम यह बन रहे हैं। दैवीगुण भी धारण करने हैं। यही समय है नॉलेज मिलने का। बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों.. रात-दिन मीठे-मीठे कहते रहते हैं। बच्चे नहीं कह सकते – मीठे-मीठे बाबा। कहना तो दोनों को चाहिए। दोनों ही मीठे हैं ना। बेहद के बापदादा। परन्तु कई देह-अभिमानी सिर्फ बाबा को मीठा-मीठा कहते हैं। कई बच्चे तो गुस्से में आकर फिर कभी बापदादा को भी कुछ कह देते। कभी बाप को कहा तो दादा को भी कहा, बात एक ही हो जाती। कभी ब्राह्मणी पर, कभी आपस में नाराज़ हो पड़ते हैं। तो बेहद का बाप बैठ बच्चों को शिक्षा देते हैं। गांव-गांव में बच्चे तो बहुत हैं, सबको लिखते रहते हैं। तुम्हारी रिपोर्ट आती है, तुम गुस्सा करते हो। बेहद का बाप इसको देह-अभिमान कहेंगे। बाप सबको कहते हैं – बच्चों, देही-अभिमानी भव। सब बच्चे नीचे-ऊपर होते रहते हैं, इसमें भी माया जिसको समर्थ पहलवान देखती है, उनसे ही लड़ाई करती है। महावीर, हनुमान के लिए दिखाया है कि उनको भी हिलाने की कोशिश की। इस समय ही सबकी परीक्षा लेती है। माया से हार-जीत सबकी होती रहती है। लड़ाई में स्मृति-विस्मृति सब होता है। जो जितना स्मृति में रहते हैं, निरन्तर बाप को याद करने की कोशिश करते हैं वह अच्छा पद पा सकते हैं। बाप आये हैं बच्चों को पढ़ाने, सो तो पढ़ाते रहते हैं। श्रीमत पर चलते रहना है। श्रीमत पर चलने से ही श्रेष्ठ बनेंगे, इसमें कोई से बिगड़ने की बात ही नहीं। बिगड़ना माना क्रोध करना। भूल आदि करते हैं तो बाबा के पास रिपोर्ट करनी है। खुद किसको नहीं कहना चाहिए फिर जैसेकि लॉ हाथ में ले लिया। गवर्मेन्ट लॉ हाथ में उठाने नहीं देती। कोई ने घूँसा मारा तो उनको घूँसा नहीं मारेंगे। रिपोर्ट करेंगे फिर उनका केस होगा। यहाँ भी बच्चों को कभी सामने कुछ नहीं कहना चाहिए, बाबा को बोलो। सबको सावधानी देने वाला एक बाबा है। बाबा युक्ति बहुत मीठी बतायेंगे। मीठेपन से शिक्षा देंगे। देह-अभिमानी बनने से अपना ही पद कम कर देते हैं। घाटा क्यों डालना चाहिए। जितना हो सके बाबा को बहुत प्यार से याद करते रहो। बेहद के बाप को बहुत प्यार से याद करो, जो बाप विश्व की बादशाही देते हैं। सिर्फ दैवीगुण धारण करने हैं। किसकी भी निंदा नहीं करनी है। देवतायें किसकी निंदा करते हैं क्या? कई बच्चे तो निंदा करने के बिगर रहते नहीं। तुम बाप को बोलो, तो बाप बहुत प्यार से समझायेंगे! नहीं तो टाइम वेस्ट होता है। निंदा करने से तो बाप को याद करो तो बहुत-बहुत फ़ायदा होगा। कोई से भी वाद-विवाद न करना बहुत अच्छा है।

तुम बच्चे दिल में समझते हो – हम नई दुनिया की बादशाही स्थापन कर रहे हैं। अन्दर में कितना फ़खुर रहना चाहिए। मुख्य है ही याद और दैवीगुण। बच्चे चक्र को याद करते ही हैं, वह तो सहज याद पड़ेगा। 84 का चक्र है ना। तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त, ड्युरेशन का पता है, फिर औरों को भी बहुत प्यार से परिचय देना है। बेहद का बाप हमको विश्व का मालिक बना रहे हैं। राजयोग सिखला रहे हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। है भी संगमयुग, जबकि नई दुनिया स्थापन होती है और पुरानी दुनिया खलास होती है। बाप बच्चों को सावधान करते रहते हैं – सिमर-सिमर सुख पाओ, कलह क्लेष मिटे सब तन के…। आधाकल्प के लिए मिट जायेंगे। बाप सुखधाम स्थापन करते हैं। माया रावण फिर दु:खधाम स्थापन करते हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बाप का बच्चों में कितना लव होता है। शुरू से बाप का लव है। बाप को मालूम है, मैं जानता हूँ – बच्चे जो काम चिता पर काले हो गये हैं, उन्हों को गोरा बनाने जाता हूँ। बाप तो नॉलेजफुल है, बच्चे धीरे-धीरे नॉलेज लेते हैं। माया फिर भुला देती है। खुशी आने नहीं देती। बच्चों को तो दिन-प्रतिदिन खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। सतयुग में पारा चढ़ा हुआ था। अब फिर चढ़ाना है याद की यात्रा से। वह धीरे-धीरे चढ़ेगा। हार-जीत होते-होते फिर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार कल्प पहले मिसल अपना पद पा लेंगे। बाकी टाइम तो वही लगता है जो कल्प-कल्प लगता है। पास भी वही होंगे जो कल्प-कल्प होते होंगे। बापदादा साक्षी हो बच्चों की अवस्था को देखते हैं और समझानी देते रहते हैं। बाहर सेन्टर्स आदि पर रहते हैं तो इतना रिफ्रेश नहीं रहते हैं। सेन्टर से होकर फिर बाहर के वायुमण्डल में चले जाते हैं, इसलिए यहाँ बच्चे आते ही हैं रिफ्रेश होने के लिए। बाप लिखते भी हैं – परिवार सहित सबको याद-प्यार देना। वह है हद का बाप, यह है बेहद का बाप। बाप और दादा दोनों का बहुत लव है क्योंकि कल्प-कल्प लवली सर्विस करते हैं और बहुत प्यार से करते हैं। अन्दर तरस पड़ता है। नहीं पढ़ते हैं या चलन अच्छी नहीं चलते हैं, श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो तरस पड़ता है – यह कम पद पायेंगे। और बाबा क्या कर सकते हैं! वहाँ और यहाँ रहने में बहुत फ़र्क है। परन्तु सब तो यहाँ नहीं रह सकते हैं। बच्चे वृद्धि को पाते रहते हैं। प्रबन्ध भी करते रहते हैं। यह भी बाबा ने समझाया है – यह आबू सबसे भारी तीर्थ है। बाप कहते हैं मैं यहाँ ही आकर सारी सृष्टि को, 5 तत्वों सहित सबको पवित्र बनाता हूँ। कितनी सेवा है। एक ही बाप है जो आकर सर्व की सद्गति करते हैं। सो भी अनेक बार किया है। यह जानते हुए भी फिर भूल जाते हैं – तब बाप कहते हैं माया बड़ी जबरदस्त है। आधाकल्प इनका राज्य चलता है। माया हराती है फिर बाप खड़ा करते हैं। बहुत लिखते हैं बाबा हम गिर गया। अच्छा फिर नहीं गिरना। फिर भी गिर पड़ते हैं। गिरते हैं तो फिर चढ़ना ही छोड़ देते हैं। कितनी चोट लग जाती है। सबको लगती है। सारा मदार है पढ़ाई पर। पढ़ाई में योग है ही। फलाना मुझे यह पढ़ा रहे हैं। अब तुम समझते हो बाप हमको पढ़ा रहे हैं। यहाँ तुम बहुत रिफ्रेश होते हो। गायन भी है निंदा हमारी जो करे मित्र हमारा सो। भगवानुवाच – मेरी ग्लानि बहुत करते हैं। मैं आकर मित्र बनता हूँ। कितनी निंदा करते हैं, मैं तो समझता हूँ सब हमारे बच्चे हैं। कितनी मेरी प्रीत है इनके साथ। निंदा करना अच्छा नहीं है। इस समय तो बहुत खबरदारी रखनी चाहिए। भिन्न-भिन्न अवस्थाओं वाले बच्चे हैं, सब पुरुषार्थ करते रहते हैं। कोई भूल भी होती है तो पुरुषार्थ कर अभुल बनना है। माया सबसे भूलें कराती है। बॉक्सिंग हैं ना। कोई समय ऐसी चोट लगती है जो गिरा देती है। बाप सावधानी देते हैं – बच्चे, ऐसे हारने से की कमाई चट हो जायेगी। 5 मंजिल से गिर पड़ते हैं। कहते हैं बाबा ऐसी भूल फिर कभी नहीं होगी। अब क्षमा करो। बाबा क्षमा क्या करेंगे। बाप तो कहते हैं पुरुषार्थ करो। बाबा जानते हैं माया बहुत प्रबल है। बहुतों को हरायेगी। टीचर का काम है भूल पर शिक्षा दे अभुल बनाना। ऐसे नहीं कि किसी ने भूल की तो हमेशा उनकी वह होती रहेगी। नहीं, अच्छे गुण गाये जाते हैं। भूल नहीं गाई जाती है। अविनाशी वैद्य तो एक ही बाप है। वह दवाई करेंगे। तुम बच्चे क्यों अपने हाथ में लॉ उठाते हो। जिसमें क्रोध का अंश होगा वह ग्लानि ही करते रहेंगे। सुधारना बाप का काम है, तुम सुधारने वाले थोड़ेही हो। कोई में क्रोध का भूत है। खुद बैठ किसकी ग्लानि करते हैं तो गोया अपने हाथ में लॉ उठाया, इससे वह सुधरेंगे नहीं। और ही अनबन हो जायेगी। लूनपानी हो जायेंगे। सब बच्चों के लिए एक बाप बैठा है। लॉ अपने हाथ में उठाए किसकी ग्लानि करना, यह भारी भूल है। कोई न कोई खराबी तो सबमें होती है। सब सम्पूर्ण तो नहीं बने हैं। कोई में क्या अवगुण है, कोई में क्या है। वह सब निकालने का कान्ट्रैक्ट बाप ने उठाया है। यह तुम्हारा काम नहीं। बच्चों की खामियां बाप सुनते हैं तो वह निकालने लिए प्यार से समझानी दी जाती है। अभी तक सम्पूर्ण कोई बना नहीं है। सब श्रीमत पर सुधर रहे हैं। सम्पूर्ण तो अन्त में बनना है। इस समय सब पुरुषार्थी हैं। बाबा सदैव अडोल रहते हैं। बच्चों को प्यार से शिक्षा देते रहते हैं। शिक्षा देना बाप का काम है। फिर उस पर चले न चलें, वह हुई उसकी तकदीर। कितना पद कम हो पड़ता है। श्रीमत पर न चलने कारण कुछ भी ऐसा करने से पद भ्रष्ट हो जायेगा। दिल अन्दर खायेगा, हमने यह भूल की है। हमको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। किसका भी अवगुण है तो वह बाप को सुनाना है। दर-दर सुनाना यह देह-अभिमान है। बाप को याद नहीं करते हैं। अव्यभिचारी बनना चाहिए ना। एक को सुनायेंगे तो वह झट सुधर जायेंगे। सुधारने वाला एक ही बाप है। बाकी तो सब हैं अनसुधरे। परन्तु माया ऐसी है – माथा फिरा देती है। बाप एक तरफ मुँह करते हैं, माया फिर घुमाकर अपने तरफ कर लेती है। बाप आये ही हैं सुधार कर मनुष्य से देवता बनाने। बाकी दर-दर किसका नाम बदनाम करना यह बेकायदे है। तुम शिवबाबा को याद करो। जजमेंट भी उनके पास होती है ना। कर्मों का फल भी बाप देते हैं। भल ड्रामा में है परन्तु किसका नाम तो लिया जाता है ना। बाप तो बच्चों को सब बातें समझाते रहते हैं। तुम कितने भाग्यशाली हो। कितने मेहमान आते हैं। जिनके पास बहुत मेहमान आते हैं, वह खुश होते हैं। यह बच्चे भी हैं, तो मेहमान भी हैं। टीचर की बुद्धि में तो यही रहता है – मैं बच्चों को इन जैसा सर्वगुण सम्पन्न बनाऊं। यह कॉन्ट्रैक्ट बाप ने उठाया है, ड्रामा के प्लैन अनुसार। बच्चों को मुरली भी कभी मिस नहीं करनी चाहिए। मुरली का ही तो गायन है ना – एक भी मुरली मिस की तो जैसे स्कूल में अबसेन्ट पड़ गई। यह है बेहद के बाप का स्कूल, इसमें तो एक दिन भी मिस नहीं करना चाहिए। बाप आकर पढ़ाते हैं, दुनिया में किसको मालूम थोड़ेही है। स्वर्ग की स्थापना कैसे होती है, यह भी कोई नहीं जानते हैं। तुम सब कुछ जानते हो। यह पढ़ाई बहुत-बहुत अथाह कमाई की है। जन्म-जन्मान्तर के लिए इस पढ़ाई का फल मिल जाता है। विनाश का सारा तैलुक तुम्हारी पढ़ाई से है। तुम्हारी पढ़ाई पूरी होगी और यह लड़ाई शुरू होगी। पढ़ते-पढ़ते बाप को याद करते जब मार्क्स पूरी हो जाती है, इम्तहान हो जाता है तब लड़ाई लगती है। तुम्हारी पढ़ाई पूरी हुई तो लड़ाई लगेगी। यह नई दुनिया के लिए बिल्कुल नया ज्ञान है इसलिए मनुष्य बिचारे मूँझते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी के अवगुण देख उसकी निंदा नहीं करना है। जगह-जगह पर उसके अवगुण नहीं सुनाने हैं। अपना मीठापन नहीं छोड़ना है। क्रोध में आकर किसी का सामना नहीं करना है।

2) सबको सुधारने वाला एक बाप है, इसलिए एक बाप को ही सब सुनाना है, अव्यभिचारी बनना है। मुरली कभी भी मिस नहीं करनी है।

वरदान:- देह-अभिमान के मैं पन की सम्पूर्ण आहुति डालने वाले धारणा स्वरूप भव
जब संकल्प और स्वप्न में भी देह-अभिमान का मैं पन न हो, अनादि आत्मिक स्वरूप की स्मृति हो। बाबा-बाबा का अनहद शब्द निकलता रहे तब कहेंगे धारणा स्वरूप, सच्चे ब्राह्मण। मैं पन अर्थात् पुराने स्वभाव, संस्कार रूपी सृष्टि को जब आप ब्राह्मण इस महायज्ञ में स्वाहा करेंगे तब इस पुरानी सृष्टि की आहुति पड़ेगी। तो जैसे यज्ञ रचने के निमित्त बने हो, ऐसे अब अन्तिम आहुति डाल समाप्ति के भी निमित्त बनो।
स्लोगन:- स्वयं से, सेवा से और सर्व से सन्तुष्टता का सर्टीफिकेट लेना ही सिद्धि स्वरूप बनना है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 January 2020

27-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारा एक-एक बोल बहुत मीठा फर्स्टक्लास होना चाहिए, जैसे बाप दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है, ऐसे बाप समान सबको सुख दो”
प्रश्नः- लौकिक मित्र-सम्बन्धियों को ज्ञान देने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- कोई भी मित्र-सम्बन्धी आदि हैं तो उनसे बहुत नम्रता से, प्रेमभाव से मुस्कराते हुए बात करनी चाहिए। समझाना चाहिए यह वही महाभारत लड़ाई है। बाप ने रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। मैं आपको सत्य कहता हूँ कि भक्ति आदि तो जन्म-जन्मान्तर की, अब ज्ञान शुरू होता है। जब मौका मिले तो बहुत युक्ति से बात करो। कुटुम्ब परिवार में बहुत प्यार से चलो। कभी किसी को दु:ख न दो।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……….

ओम् शान्ति। जब कोई गीत बजता है तो बच्चों को अपने अन्दर उसका अर्थ निकालना चाहिए। सेकण्ड में निकल सकता है। यह बेहद के ड्रामा की बहुत बड़ी घड़ी है ना। भक्ति मार्ग में मनुष्य पुकारते भी हैं। जैसे कोर्ट में केस होता है तो कहते हैं कब सुनवाई हो, कब बुलावा हो तो हमारा केस पूरा हो। तो बच्चों का भी केस है, कौन-सा केस? रावण ने तुमको बहुत दु:खी बनाया है। तुम्हारा केस दाखिल होता है बड़े कोर्ट में। मनुष्य पुकारते रहते हैं-बाबा आओ, आकरके हमको दु:खों से छुड़ाओ। एक दिन सुनवाई तो जरूर होती है। बाप सुनते भी हैं, ड्रामा अनुसार आते भी हैं बिल्कुल पूरे टाइम पर। उसमें एक सेकण्ड का भी फ़र्क नहीं पड़ सकता है। बेहद की घड़ी कितनी एक्यूरेट चलती है। यहाँ तुम्हारे पास यह छोटी घड़ियाँ भी एक्यूरेट नहीं चलती हैं। यज्ञ का हर कार्य एक्यूरेट होना चाहिए। घड़ी भी एक्यूरेट होनी चाहिए। बाप तो बड़ा एक्यूरेट है। सुनवाई बड़ी एक्यूरेट होती है। कल्प-कल्प, कल्प के संगम पर एक्यूरेट टाइम पर आते हैं। तो बच्चों की अब सुनवाई हुई, बाबा आया हुआ है। अभी तुम सबको समझाते हो। आगे तुम भी नहीं समझते थे कि दु:ख कौन देता है? अभी बाप ने समझाया है रावण राज्य शुरू होता है द्वापर से। तुम बच्चों को मालूम पड़ गया है-बाबा कल्प-कल्प संगमयुग पर आते हैं। यह है बेहद की रात। शिवबाबा बेहद की रात में आते हैं, कृष्ण की बात नहीं, जब घोर अन्धियारे में अज्ञान नींद में सोये रहते हैं तब ज्ञान सूर्य बाप आते हैं, बच्चों को दिन में ले जाने। कहते हैं मुझे याद करो क्योंकि पतित से पावन बनना है। बाप ही पतित-पावन है। वह जब आये तब तो सुनवाई हो। अब तुम्हारी सुनवाई हुई है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ पतितों को पावन बनाने। पावन बनने का तुमको कितना सहज उपाय बताता हूँ। आजकल देखो साइंस का कितना जोर है। एटॉमिक बॉम्ब्स आदि का कितना जोर से आवाज़ होता है। तुम बच्चे साइलेन्स के बल से इस साइंस पर जीत पाते हो। साइलेन्स को योग भी कहा जाता है। आत्मा बाप को याद करती है-बाबा आप आओ तो हम शान्तिधाम में जाकर निवास करें। तो तुम बच्चे इस योगबल से, साइलेन्स के बल से साइंस पर जीत पाते हो। शान्ति का बल प्राप्त करते हो। साइंस से ही यह सारा विनाश होने का है। साइलेन्स से तुम बच्चे विजय पाते हो। बाहुबल वाले कभी भी विश्व पर जीत पा नहीं सकते। यह प्वाइंट्स भी तुमको प्रदर्शनी में लिखनी चाहिए।

देहली में बहुत सर्विस हो सकती है क्योंकि देहली है सबका कैपीटल। तुम्हारी भी देहली ही कैपीटल होगी। देहली को ही परिस्तान कहा जाता है। पाण्डवों के किले तो नहीं हैं। किला तब बांधा जाता है जब दुश्मन चढ़ाई करते हैं। तुमको तो किले आदि की दरकार रहती नहीं। तुम जानते हो हम साइलेन्स के बल से अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं, उन्हों की है आर्टीफिशल साइलेन्स। तुम्हारी है रीयल साइलेन्स। ज्ञान का बल, शान्ति का बल कहा जाता है। नॉलेज है पढ़ाई। पढ़ाई से ही बल मिलता है। पुलिस सुपरिन्टेन्डेंट बनते हैं, कितना बल रहता है। वह सब हैं जिस्मानी बातें दु:ख देने वाली। तुम्हारी हर बात रूहानी है। तुम्हारे मुख से जो भी बोल निकलते हैं वह एक-एक बोल ऐसे फर्स्टक्लास मीठे हों जो सुनने वाला खुश हो जाए। जैसे बाप दु:ख हर्ता सुख कर्ता है, ऐसे तुम बच्चों को भी सबको सुख देना है। कुटुम्ब परिवार को भी दु:ख आदि न हो। कायदे अनुसार सबसे चलना है। बड़ों के साथ प्यार से चलना है। मुख से अक्षर ऐसे मीठे फर्स्ट क्लास निकलें जो सब खुश हो जाएं। बोलो, शिवबाबा कहते हैं मन्मनाभव। ऊंच ते ऊंच मैं हूँ। मुझे याद करने से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बहुत प्यार से बात करनी चाहिए। समझो कोई बड़ा भाई हो बोलो दादा जी शिवबाबा कहते हैं – मुझे याद करो। शिवबाबा जिसको रूद्र भी कहते हैं, वही ज्ञान यज्ञ रचते हैं। कृष्ण ज्ञान यज्ञ अक्षर नहीं सुनेंगे। रूद्र ज्ञान यज्ञ कहते हैं तो रूद्र शिवबाबा ने यह यज्ञ रचा है। राजाई प्राप्त करने के लिए ज्ञान और योग सिखला रहे हैं। बाप कहते हैं भगवानुवाच मामेकम् याद करो क्योंकि अभी सबकी अन्त घड़ी है, वानप्रस्थ अवस्था है। सबको वापिस जाना है। मरने समय मनुष्य को कहते हैं ना ईश्वर को याद करो। यहाँ ईश्वर स्वयं कहते हैं मौत सामने खड़ा है, इनसे कोई बच नहीं सकते। अन्त में ही बाप आकर के कहते हैं कि बच्चे मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हो जाएं, इनको याद की अग्नि कहा जाता है। बाप गैरन्टी करते हैं कि इससे तुम्हारे पाप दग्ध होंगे। विकर्म विनाश होने का, पावन बनने का और कोई उपाय नहीं है। पापों का बोझा सिर पर चढ़ते-चढ़ते, खाद पड़ते-पड़ते सोना 9 कैरेट का हो गया है। 9 कैरेट के बाद मुलम्मा कहा जाता है। अभी फिर 24 कैरेट कैसे बनें, आत्मा प्योर कैसे बनें? प्योर आत्मा को जेवर भी प्योर मिलेगा।

कोई मित्र-सम्बन्धी आदि हैं तो उनसे बहुत नम्रता से, प्रेम भाव से मुस्कराते हुए बात करनी चाहिए। समझाना चाहिए यह तो वही महाभारत लड़ाई है। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ भी है। बाप द्वारा हमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज मिल रही है। और कहाँ भी यह नॉलेज मिल न सके। मैं आपको सत्य कहता हूँ यह भक्ति आदि तो जन्म-जन्मान्तर की है, अब ज्ञान शुरू होता है। भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। सतयुग में भक्ति होती नहीं। ऐसे-ऐसे युक्ति से बात करनी चाहिए। जब कोई मौका मिले, जब तीर मारना होता है तो समय और मौका देखा जाता है। ज्ञान देने की भी बड़ी युक्ति चाहिए। बाप युक्तियाँ तो सबके लिए बताते रहते हैं। पवित्रता तो बड़ी अच्छी है, यह लक्ष्मी-नारायण हमारे बड़े पूज्य हैं ना। पूज्य पावन फिर पुजारी पतित बनें। पावन की पतित बैठ पूजा करें-यह तो शोभता नहीं है। कई तो पतित से दूर भागते हैं। वल्लभाचारी कभी पाँव को छूने नहीं देते। समझते हैं यह छी-छी मनुष्य हैं। मन्दिरों में भी हमेशा ब्राह्मण को ही मूर्ति छूने का एलाउ रहता है। शूद्र मनुष्य अन्दर जाकर छू न सकें। वहाँ ब्राह्मण लोग ही उनको स्नान आदि कराते हैं, और कोई को जाने नहीं देते। फर्क तो है ना। अब वे तो हैं कुख वंशावली ब्राह्मण, तुम हो मुख वंशावली सच्चे ब्राह्मण। तुम उन ब्राह्मणों को अच्छा समझा सकते हो कि ब्राह्मण दो प्रकार के होते हैं-एक तो हैं प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली, दूसरे हैं कुख वंशावली। ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण हैं ऊंच ते ऊंच चोटी। यज्ञ रचते हैं तो भी ब्राह्मणों को मुकरर किया जाता है। यह फिर है ज्ञान यज्ञ। ब्राह्मणों को ज्ञान मिलता है जो फिर देवता बनते हैं। वर्ण भी समझाये गये हैं। जो सर्विसएबुल बच्चे होंगे उन्हें सर्विस का सदैव शौक रहेगा। कहाँ प्रदर्शनी होगी तो झट सर्विस पर भागेंगे-हम जाकर ऐसी-ऐसी प्वाइंट्स समझायें। प्रदर्शनी में तो प्रजा बनने का विहंग मार्ग है, आपेही ढेर के ढेर आ जाते हैं। तो समझाने वाले भी अच्छे होने चाहिए। अगर कोई ने पूरा नहीं समझाया तो कहेंगे बी.के. के पास यही ज्ञान है! डिस-सर्विस हो जाती है। प्रदर्शनी में एक ऐसा चुस्त हो जो समझाने वाले गाइड्स को देखता रहे। कोई बड़ा आदमी है तो उनको समझाने वाला भी ऐसा अच्छा देना चाहिए। कम समझाने वालों को हटा देना चाहिए। सुपरवाइज़ करने पर एक अच्छा होना चाहिए। तुमको तो महात्माओं को भी बुलाना है। तुम सिर्फ बतलाते हो कि बाबा ऐसे कहते हैं, वह ऊंच ते ऊंच भगवान है, वही रचयिता बाप है। बाकी सब हैं उनकी रचना। वर्सा बाप से मिलेगा, भाई, भाई को वर्सा क्या देगा! कोई भी सुखधाम का वर्सा दे न सके। वर्सा देते ही हैं बाप। सर्व का सद्गति करने वाला एक ही बाप है, उनको याद करना है। बाप खुद आकर गोल्डन एज़ बनाते हैं। ब्रह्मा तन से स्वर्ग स्थापन करते हैं। शिव जयन्ती मनाते भी हैं, परन्तु वह क्या करते हैं, यह सब मनुष्य भूल गये हैं। शिवबाबा ही आकर राजयोग सिखलाए वर्सा देते हैं। 5000 वर्ष पहले भारत स्वर्ग था, लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं है। तिथि-तारीख सब है, इनको कोई खण्डन कर न सके। नई दुनिया और पुरानी दुनिया आधा-आधा चाहिए। वह सतयुग की आयु लाखों वर्ष कह देते तो कोई हिसाब हो नहीं सकता। स्वास्तिका में भी पूरे 4 भाग हैं। 1250 वर्ष हर युग में बांटे हुए हैं। हिसाब किया जाता है ना। वो लोग हिसाब तो कुछ भी जानते नहीं इसलिए कौड़ी तुल्य कहा जाता है। अब बाप हीरे तुल्य बनाते हैं। सब पतित हैं, भगवान को याद करते हैं। उन्हों को भगवान आकर ज्ञान से गुल-गुल बनाते हैं। तुम बच्चों को ज्ञान रत्नों से सजाते रहते हैं। फिर देखो तुम क्या बनते हो, तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट क्या है? भारत कितना सिरताज था, सब भूल गये हैं। मुसलमानों आदि ने भी कितना सोमनाथ मन्दिर से लूटकर मस्जिदों आदि में हीरे आदि जाकर लगाये हैं। अभी उनकी तो कोई वैल्यू भी कर नहीं सकते। इतनी बड़ी-बड़ी मणियाँ राजाओं के ताज में रहती थी। कोई तो करोड़ की, कोई 5 करोड़ की। आजकल तो सब इमीटेशन निकल पड़ी है। इस दुनिया में सब है आर्टीफिशल पाई का सुख। बाकी है दु:ख इसलिए सन्यासी भी कहते हैं काग विष्टा समान सुख है इसलिए वह घरबार छोड़ते हैं परन्तु अब तो वह भी तमोप्रधान हो पड़े हैं। शहर में अन्दर घुस पड़े हैं। परन्तु अब किसको सुनायें, राजा-रानी तो हैं नहीं। कोई भी मानेगा नहीं। कहेंगे सबकी अपनी-अपनी मत है, जो चाहे सो करे। संकल्प की सृष्टि है। अब तुम बच्चों को बाप गुप्त रीति पुरूषार्थ कराते रहते हैं। तुम कितना सुख भोगते हो। दूसरे धर्म भी पिछाड़ी में जब वृद्धि को पाते हैं तब लड़ाइयाँ आदि खिटपिट होती है। पौना समय तो सुख में रहते हो इसलिए बाप कहते हैं तुम्हारा देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। हम तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं। और धर्म स्थापक कोई राजाई नहीं स्थापन करते हैं। वह सद्गति नहीं करते। आते हैं सिर्फ अपना धर्म स्थापन करने। वह भी जब अन्त में तमोप्रधान बन जाते हैं तो फिर बाप को आना पड़ता है सतोप्रधान बनाने।

तुम्हारे पास सैकड़ों मनुष्य आते हैं परन्तु कुछ भी समझते नहीं। बाबा को लिखते हैं फलाना बहुत अच्छा समझ रहा है, बहुत अच्छा है। बाबा कहते हैं कुछ भी समझा नहीं है। अगर समझ जाए बाबा आया हुआ है, विश्व का मालिक बना रहे हैं, बस उसी समय मस्ती चढ़ जाए। फौरन टिकेट लेकर यह भागे। परन्तु ब्राह्मणी की चिट्ठी तो जरूर लानी पड़े-बाप से मिलने लिए। बाप को पहचान जाएं तो मिलने बिगर रह न सके, एकदम नशा चढ़ जाए। जिन्हें नशा चढ़ा हुआ होगा उन्हें अन्दर में बहुत खुशी रहेगी। उनकी बुद्धि मित्र-सम्बन्धियों में भटकेगी नहीं। परन्तु बहुतों की भटकती रहती है। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र बनना है और बाप की याद में रहना है। है बहुत सहज। जितना हो सके बाप को याद करते रहो। जैसे ऑफिस से छुटटी लेते हैं, वैसे धन्धे से छुटटी पाकर एक-दो दिन याद की यात्रा में बैठ जाओ। घड़ी-घड़ी याद में बैठने के लिए अच्छा सारा दिन व्रत रख लेता हूँ-बाप को याद करने का। कितना जमा हो जायेगा। विकर्म भी विनाश होंगे। बाप की याद से ही सतोप्रधान बनना है। सारा दिन पूरा योग तो किसका लग भी न सके। माया विघ्न जरूर डालती है फिर भी पुरूषार्थ करते-करते विजय पा लेंगे। बस, आज का सारा दिन बगीचे में बैठ बाप को याद करता हूँ। खाने पर भी बस याद में बैठ जाता हूँ। यह है मेहनत। हमको पावन जरूर बनना है। मेहनत करनी है, औरों को भी रास्ता बताना है। बैज तो बहुत अच्छी चीज़ है। रास्ते में आपस में भी बात करते रहेंगे तो बहुत आकर सुनेंगे। बाप कहते हैं मुझे याद करो, बस मैसेज मिल गया तो हम रेसपॉन्सिबिलिटी से छूट गये। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) धन्धे आदि से जब छुटटी मिले तो याद में रहने का व्रत लेना है। माया पर विजय प्राप्त करने के लिए याद की मेहनत करनी है।

2) बहुत नम्रता और प्रेम भाव से मुस्कराते हुए मित्र-सम्बन्धियों की सेवा करनी है। उनमें बुद्धि को भटकाना नहीं है। प्यार से बाप का परिचय देना है।

वरदान:- लौकिक को अलौकिक में परिवर्तन कर सर्व कमजोरियों से मुक्त होने वाले मास्टर सर्वशकतिमान् भव
जो मास्टर सर्वशक्तिमान् नॉलेजफुल आत्मायें हैं वे कभी किसी भी कमजोरी वा समस्याओं के वशीभूत नहीं होती क्योंकि वे अमृतवेले से जो भी देखते, सुनते, सोचते या कर्म करते हैं उसको लौकिक से अलौकिक में परिवर्तन कर देते हैं। कोई भी लौकिक व्यवहार निमित्त मात्र करते हुए अलौकिक कार्य सदा स्मृति में रहे तो किसी भी प्रकार के मायावी विकारों के वशीभूत व्यक्ति के सम्पर्क से स्वयं वशीभूत नहीं होंगे। तमोगुणी वायब्रेशन में भी सदा कमल समान रहेंगे। लौकिक कीचड़ में रहते हुए भी उससे न्यारे रहेंगे।
स्लोगन:- सर्व को सन्तुष्ट करो तो पुरूषार्थ में स्वत:हाई जम्प लग जायेगा।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

अमृतवेले उठने से लेकर हर कर्म, हर संकल्प और हर वाणी में रेग्युलर बनो। एक भी बोल ऐसा न निकले जो व्यर्थ हो। जैसे बड़े आदमियों के बोलने के शब्द फिक्स होते हैं ऐसे आपके बोल फिक्स हो। एकस्ट्रा नहीं बोलना है।

TODAY MURLI 27 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 January 2020

27/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, every word you speak should be very sweet and first class. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You have to give happiness to everyone like the Father does.
Question: In what way should you give this knowledge to your friends and relatives?
Answer: You should speak to your friends, relatives etc. very lovingly with a smile and a lot of humility. Explain to them that this is the same Mahabharat War. The Fatherhas created Rudra’s sacrificial fire of knowledge. He says: I tell you the truth. You have been performing devotion for many births. It is only now that knowledge begins. Whenever you have a chance, talk to them very tactfully. Continue to move along with a lot of love for your family. Never cause sorrow for anyone.
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. When any of these songs are played, you children should understand their meaning. You can extract the meaning in a second. There is the unlimited clock of the drama. On the path of devotion people call out. It is just as when there is to be a court case, people ask: When will the hearing take place? When will we be called so that our case can be settled? So, you children also have a case. What case? Ravan has brought you a great deal of sorrow. Your case is being taken to the High Court. People continue to call out: Baba, come and liberate us from sorrow. Your hearing will definitely take place one day. The Fatherdoes listen to you and He comes at precisely the accurate time according to the drama; there cannot be the difference of even a second. The unlimited clock functions accurately. The watches you have do not function as accurately. Each task in this yagya has to be performed very accurately. Even the clock has to be very accurate. The Fatheris very accurate. The hearing will also take place very accurately. He comes at the accurate time of the confluence of every cycle. So, you children have now been heard and Baba has therefore come. You now explain to everyone. Previously, you didn’t understand who made you unhappy. The Fatherhas now explained that Ravan’s kingdom begins with the copper age. You children now know that Baba comes in the unlimited night at the confluence of every cycle. It is Shiv Baba who comes in the unlimited night. This is not a question of Krishna. The Father, the Sun of Knowledge, comes when children are sleeping in the darkness of ignorance in order to take them into the day. He says: Remember Me because you have to change from impure to pure. Only the Fatheris the Purifier. Only when He comes can He hear you. Your hearing is now to take place. The Fathersays: I have come to purify the impure. I show you such an easy way to become pure. Nowadays, there is so much power of science. Atomic bombs etc. make such a loud noise. You children gain victory over science with the power of silenceSilence is also called yoga. You souls used to remember your Father and would say: Baba, when You come, we can go and reside in our land of silence. Therefore, you children gain victory over science with your power of yoga, that is, with your power of silence. You are attaining the power of silence. Destruction will take place through science. You children gain victory through silence. Those with physical power cannot gain victory over the world. Write these points up at your exhibitions. Plenty of service can take place in Delhi because Delhi is the capital. Your capital will also be Delhi. Delhi is called Paristhan (the land of angels). There aren’t any forts for Pandavas. People build a fort to protect them from enemy attacks. You have no need of forts etc. You know that you are establishing your own kingdom with the power of silence. Those people have artificial silence whereas yours is real silence. It is said: The power of knowledge and the power of silence. Knowledge means a study. You receive power through this study. A police superintendent has so much power. All of those are physical things that cause you sorrow. All of your matters are spiritual. Whatever words emerge from your mouths have to be firstclass and so sweet that those who listen to you become happy. The Fatheris the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You children have to give happiness to everyone in the same way. You should not make your extended family experience any sorrow either. You have to interact with everyone with discipline. Interact with your elders with a lot of love. Such sweet, firstclass words should emerge from your mouths that anyone who hears them becomes happy. Tell them: Shiv Baba says: Manmanabhav! I am the Highest on High. By remembering Me, your sins will be absolved. You have to talk to them with a lot of love. If there is an elder brother around, tell him: Dadaji, Shiv Baba says: Remember Me. Shiv Baba, who is also called Rudra, has created this sacrificial fire of knowledge. You would never have heard that Krishna created the sacrificial fire of knowledge. People only speak of the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra, Shiv Baba, has created this sacrificial fire of knowledge. He is teaching you knowledge and yoga to enable you to claim a kingdom. The Father also says: God speaks: Constantly remember Me alone because it is now the final moments for everyone. It is everyone’s stage of retirement. Everyone has to return home. When someone is about to die, he is told to remember God. God Himself comes here and says: Death is standing ahead of you. No one can be saved from it. The Fathercomes at the end of the cycle and says: Children, remember Me and your sins will be burnt away. This is called the fire of remembrance. The Fatherguarantees that your sins will be burnt in this remembrance. There is no other way for your sins to be absolved and for you to become pure. Due to the burden of sins on your heads and because alloy has been mixed into you, the gold is now only nine carat. When it is only nine carat gold, it is called artificial gold. How can it become 24 carat gold again? How can you souls become pure? A pure soul will be given pure ornaments. You have to speak to your friends, relatives etc. very lovingly with a smile and a lot of humility. Explain to them that this is the same Mahabharat War. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. We are now being given the knowledge of the beginning, middle and end of the world by the Father. You cannot receive this knowledge anywhere else. I am telling you the truth. You have been performing devotion for many births. It is now the time for this knowledge to begin. Devotion is the night and knowledge is the day. In the golden age, there is no devotion. You should speak to them in a tactful way whenever you have a chance. Before you shoot an arrow, you have to consider the time and the circumstances. You need great tact in order to give knowledge. The Father gives different methods to everyone. Purity is very good. Lakshmi and Narayan are worthy of worship. They were pure and worthy of being worshipped. Then, they became impure and worshippers. It doesn’t seem right for pure ones to worship the impure. Some even run away from impure ones. The Vallabhacharis (sect of Krishna devotees) never allow anyone to touch their feet. They believe that human beings are dirty. In temples, only the brahmin priests are allowed to touch the deity idols. Shudra human beings are forbidden to touch the idols. Only the brahmin priests are allowed to bathe them etc. No one else is allowed to go there. There is so much difference! Those brahmins are born through a womb whereas you true Brahmins are mouth-born. You can explain very well to those brahmins that there are two types of Brahmin: One type is of those who are the mouth-born progeny of Prajapita Brahma and the other type is of the progeny born through a womb. The Brahmins who are the mouth-born progeny of Brahma are the topknot. When a sacrificial fire is created, brahmin priests are appointed to take care of it. This sacrificial fire is of knowledge. You Brahmins are given knowledge and you then become deities. The different castes have been explained to you. Serviceable children are always keen to do service. Whenever there is an exhibition somewhere, they will instantly run there. They feel that they have to go and explain these points of knowledge. Subjects are created very quickly at the exhibitions. Many come by themselves. Therefore, clever ones who can explain clearly are needed. If someone doesn’t explain fully, people would say, “Is this all the knowledge that the Brahma Kumaris have?” Therefore, disservice would be done. This is why you need an alert person to watch over the guides as they explain. If important people come, someone who can explain well should speak to them. Those who are unable to explain clearly have to be removed. There should be someone who is able to supervise very well. You also have to invite the mahatmas. Simply tell them that this is what Baba says: I am God, the Highest on High. I am the Father, the Creator. Everyone else is part of creation. You receive the inheritance from the Father. What inheritance would a brother give to a brother? No one else is able to give you the inheritance of the land of happiness. Only the Fathercan give you that inheritance. Only the Fatheris the One who grants salvation to all. You have to remember Him. The FatherHimself comes and creates the golden age. He creates heaven through the body of Brahma. People celebrate the birthday of Shiva (Shiv Jayanti), but what did He do? Everyone has forgotten all of that. Shiv Baba comes and teaches you Raj Yoga and gives you the inheritance. Bharat was made into heaven 5000 years ago. It cannot be a question of hundreds of thousands of years. The dates and times are in front of you. No one can prove them to be false. The new world and the old world have to be half-and-half. Those people say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. If that were the case, nothing could be calculated accurately. There are in fact four equal parts of the swastika. Each age is 1250 years. A calculation can be made. Those people do not know any of these calculations. That is why they are said to be worth shells. The Fatheris now making you worth diamonds. Everyone is impure, which is why they remember God. God comes and makes you beautiful with knowledge. He decorates you children with the jewels of knowledge. Just look what you then become! What is your aim and objective? Have you forgotten how Bharat used to be crowned? The Muslims looted so many diamonds etc. from the Somnath Temple and used them all in their mosques etc. No one could put a value on them now. There used to be so many large jewels in the crowns worn by the kings. Some would have jewels worth one hundred thousand and others would have jewels worth five hundred thousand. Nowadays, there are so many artificial things. The artificial happiness of this world is only worth a few pennies; everything else is sorrow. Therefore, sannyasis say that happiness is like the droppings of a crow. That is why they leave their homes and businesses. However, even they have now become totally tamopradhan. They have now pushed their way into the cities, but to whom would you go and complain? There are no kings or queens. No one would listen to you. They would say that each one has his own opinion, that they can do whatever they want, that this world is created through thoughts. The Fathernow enables you children to make effort in an incognito way. You experience so much happiness. All the other religions expand at the end. Then there is war and a great deal of conflict. You stay in happiness for three quarters of the cycle. This is why the Fathersays that your deity religion gives you so much happiness. I make you into the masters of the world. None of the other founders of a religion establish a kingdom. They do not grant salvation to anyone; they simply come to establish their own religions. When even they have become totally tamopradhan by the end, the Fatherhas to come to make them totally satopradhan. Thousands of people come here, but they do not understand anything. Some children write to Baba saying that so-and-so has understood very well and that he is very good. Baba says: He hasn’t understood anything. If he had understood that Baba has come and is making us into the masters of the world, he would have become intoxicated and instantly bought a ticket at that very moment and come running here. However, you must also have a letter of introduction from your teacher when you come to meet the Father. Once you recognise the Father, you cannot delay coming to meet Him. You would have a great deal of intoxication. Those who are intoxicated in this way would have a lot of happiness inside them. Their intellects wouldn’t wander to their friends or relatives. However, the intellects of many of you continue to wander around. Whilst living at home with your family, remain as pure as a lotus flower and stay in remembrance of the Father. This is very easy. Stay in remembrance of the Fatheras much as possible. You are able to take leave from work. In the same way, take a couple of days leave from your work and sit in the pilgrimage of remembrance. In order to sit in remembrance, you should repeatedly think: I will keep a fast of remembrance of the Father. You would then accumulate so much. All your sins would also be absolved. You have to become totally pure by having remembrance of the Father. No one is able to remain in remembrance throughout the whole day. Maya definitely creates obstacles. Even so, it is by making this effort that you gain victory. Think: Today, I will sit in the garden the whole day and simply remember the Father. Even whilst taking my meals, I will simply sit in remembrance. This does takes effort. We definitely do have to become pure. You have to make effort and show the path to others. The badges are very good. If you talk amongst yourselves in the street, many would gather and listen to you. The Fathersays: Remember Me! Once they have received this message, you are free from the responsibility. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Take leave from your work etc. and make a vow to stay in remembrance. In order to gain victory over Maya, make effort to have remembrance.
  2. Serve your friends and relatives very lovingly with a smile and a lot of humility, but don’t allow your intellect to wander towards them. Give everyone the Father’s introduction with a lot of love.
Blessing: May you transform the lokik into alokik and become free from all weaknesses as amaster almighty authority.
Those who are master almighty authority, knowledge-full souls are never influenced by any weaknesses or problems because whatever they see, hear, think or do from amrit vela, they transform the lokik into alokik. While fulfilling your responsibility to your lokik family, always have the alokik task in your awareness and you will not be influenced by any type of vices of Maya or by any person’s connection. Even in the midst of tamoguni vibrations, you will always remain like a lotus. While being amidst the lokik rubbish, you remain detached from it.
Slogan: Make everyone content and you will automatically take a high jump in your effort.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.From the moment of waking up at amrit vela, become regular in your every action, thought and word. Let there not be a single word that is wasteful. Just as important people have their speeches fixed, similarly, your words should be fixed. Do not speak anything extra.

TODAY MURLI 27 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 January 2019 :- Click Here

27/01/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/04/84

The three stages of the loving, co-operative and powerful children.

BapDada is seeing all the loving, co-operative and powerful children. Among the loving children there are those with different types of love. First are those who have become loving after being impressed by seeing the elevated lives of others and also seeing the transformation of others. Second are those who become loving after having even a touch of the experience of one or another virtue, whether it is happiness or peace. Third are the loving souls who experienced the company, that is, the gathering and also the support of the pure souls. Fourth are the souls who love God. All are loving but their love is numberwise. A truly loving soul is one who becomes loving through knowing the Father accurately.

In the same way, among the co-operative souls, there are also different types of co-operative soul. First are those who are co-operative according to the sanskars of devotion. They are the ones who become co-operative with the attraction of thinking that these things here are good, that this is a good place, that these people have a good life, that they will receive fruit by doing something for a good place, that is, they become co-operative by using a little of their body, mind and wealth. Second are those who become co-operative on the basis of some attainment through imbibing knowledge and yoga. Third are those who belong to the one Father and none other. There is just the one Father and just the one place for all attainments. “The Father’s task is my task”. In this way, they consider this to be their Father, their home, their task, their elevated Godly task and are constantly co-operative. So there is a difference.

Similarly, there are also the powerful souls. In this too, there are those with different stages. Simply on the basis of the knowledge of, “I am a soul who is an embodiment of power, I am a child of the Almighty Authority Father”, they try to remain stable in a powerful stage. However, it is just up to the level of them knowing. For the time they have these points of knowledge in their awareness, for the time that they have a powerful point, they become powerful for that short time, but as soon as they forget the point, they lose their power. The slightest influence of Maya makes them forget knowledge and makes them powerless. Second are those who churn knowledge, speak about knowledge and relate powerful things to others and, because of receiving the fruit of service at that time, they even experience themselves to be powerful. However, that is only whilst they are thinking about it or speaking about it, not all the time. First is their stage of thinking and second their stage of speaking about it.

Third are those who are constantly powerful souls. They don’t just think or speak about this, but they become embodiments of a master almighty authority. To become an embodiment means to become powerful. Their every step and every act is automatically powerful. They are embodiments of awareness and this is why they constantly have a powerful stage. Powerful souls would constantly experience themselves to be combined with the Father, the Almighty Authority, and also constantly experience the hand of shrimat as a canopy of protection. Because of constantly having a right to the key of determination, powerful souls would experience themselves to be masters of the treasures of success. Such souls constantly swing in the swing of all attainments. They constantly sing songs in their minds of their elevated fortune. Because they are constantly spiritually intoxicated, they easily remain beyond the attraction of the old world. They don’t have to labour. Every act and word of powerful souls automatically enable service to continue to happen. Because their self-transformation and world transformation is powerful, they constantly experience success to be guaranteed – they always have this experience. They do not have even the slightest thought of “What should I do?” “What will happen?” about any task. They constantly have the garland of success in their lives: “I am victorious. I am part of the rosary of victory.” They automatically and constantly have the firm faith: victory is my birthright. Do you understand? Now ask yourself: Who am I? The powerful souls are in the minority. The majority is of the different varieties of loving and co-operative souls. So, what will you now do? Become powerful. Experience the elevated happiness of the confluence age. Do you understand? Don’t just become those who know about it, become those who achieve it. Achcha.

You have come to your home and the Father’s home. BapDada is pleased to see that you have arrived here. You are also very happy, are you not? Let this happiness constantly remain not just in Madhuban, but let it remain with you throughout the confluence age. The Father is also pleased when the children are happy. You have come from so far, far away having tolerated a great deal, but at least you have arrived here. You tolerated the heat and cold, the food and drink and arrived here. There were also dust storms. All of that happens in the old world anyway. Nevertheless, you received rest, did you not? Did you rest? If not three feet, you at least received two feet of space. Even so, you find your home, the home of the Bestower, sweet, do you not? This place is better than the pilgrimages of the path of devotion. You have come under the canopy of protection. You have come under the sustenance of love. To reach the elevated land of this yagya, to have a right to the prasad of the yagya, has such importance. One grain has a lot of value. You know all of this, do you not? Those people are thirsty to receive even one grain of prasad, whereas here, you will receive a stomach-full of Brahma bhojan. So, you are so fortunate. Eat Brahma bhojan with this importance and your mind will become great for all time.

Achcha, this time, the maximum number is from Punjab. Why have such a great number of people come running here? So many have never come before. You have all become conscious now! Even so, BapDada sees an elevated speciality in Punjab of how they give a lot of importance to spiritual gatherings and amrit vela. They even come for amrit vela barefoot. BapDada sees the children of Punjab as those with the greatness of knowing the importance of amrit vela. Punjab residents are those who are constantly coloured with the spiritual colour of the company. They are those who constantly stay in the company of the Truth. You are like that, are you not? Do all of those from Punjab become powerful at amrit vela and celebrate a meeting? Those of you from Punjab are not lazy about amrit vela, do you? You don’t nod off, do you? Therefore, always remember the speciality of Punjab. Achcha.

Those from the Eastern Zone have also come. What is the speciality of the East? (Sunrise). The sun always rises there. Sun means the treasure of light. So now, those from the Eastern zone are master suns of knowledge. You are those who constantly dispel darkness and give light, are you not? You have this speciality, do you not? You are those who never enter the darkness of Maya. You have become master bestowers who dispel darkness, have you not? The sun is a bestower, is it not? So all of you have become master suns, that is, master bestowers who are busy in the task of giving light to the world, are you not? Maya too doesn’t have time for those who remain busy, who never have time for anything. So, what do those from the Eastern Zone think? Does Maya come in the Eastern Zone? If she does come, does she come to salute you or does she make you into a Mickey Mouse? Do you like the games of Mickey Mouse? The gaddi of the Eastern Zone is the father’s gaddi. So that is the gaddi of the kingdom, is it not? Would those who have the throne of the kingdom be kings or MickeyMouse? So, are all of you master suns of knowledge? The Sun of Knowledge also rose from there, did He not? He rose from the East. Do you understand your speciality? You are the elevated souls of the elevated gaddi where Baba originated from, that is, of the place that has been blessed. No other zone has this speciality. Therefore, constantly use your speciality for world service. What speciality will you bring? Constant master suns of knowledge. You are masterbestowers who constantly give light. Achcha. All of you have come to meet Baba. Constantly continue to celebrate the elevated meeting. A mela means to meet. Don’t deprive yourself of the mela, of the meeting, for even a second. Make the experience of a constant yogi firm before you leave here. Achcha.

To the loving souls who remain constantly in love with the one Father, to the co-operative souls in God’s task at every step, to the elevated souls who are constantly embodiments of power, to the victorious children who constantly experience the rights of victory, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to groups:

Constantly continue to progress with one faith and one Support. You constantly belong to the one Father and you constantly have to follow the shrimat of the one Father. Continue to move forward with this effort. Experience becoming an embodiment of elevated knowledge and a great yogi. Go into the depths. The deeper you go into the depths of knowledge, the more jewels of invaluable experiences you will attain. Become those with concentrated intellects. Where there is concentration, there is the experience of all attainments. Don’t go after temporary attainments. Have imperishable attainments. Don’t be attracted by perishable things. Constantly consider yourselves to be masters of the treasures and go into the unlimited. Don’t go into the limited. There is the difference of day and night between the pleasures of the unlimited and the pleasures of the attraction of the limited. Therefore, become sensible and do everything with understanding and make your present and your future elevated.

Specially selected elevated versions : Become those who have loving intellect s and are victorious jewels.

Loving intellects means the people who belong to Allah (God) who always stay in the alokik and avyakt stage. Those whose every thought and every task is alokik, those who carry out tasks, while detached like a lotus, and are always loving to the one Father, while living in the corporeal world – this is what it is to be one who has a loving intellect. A loving intellect means to be victorious. Your slogan is: Those who have loving intellects at the time of destruction are victorious and those who have divorced intellects at the time of destruction are led to destruction. When you tell this slogan to others and say: Do not become those who have divorced intellects at the time of destruction, become those who have loving intellects, then look at yourself: Do I have a loving intellect all the time? Do I sometimes become one with a divorced intellect?

Those who have loving intellects cannot have even one thought that opposes shrimat. If you have any thoughts, words or deeds that are against shrimat, you would not be said to have a loving intellect. So, check: Is my every thought and word according to shrimat? A loving intellect means that the love of the intellect is constantly connected with the one Beloved. When you always have love for the One, your love cannot be for any other person or possession, because a loving intellect means constantly to experience BapDada to be personally in front of you. Those who constantly remain personally in front of Baba, face to face with Baba, cannot turn their faces away from Baba.

The words that always emerge from the heart and lips of those who have loving intellects are: I eat with You, I sit with You, I speak with You, I listen to You, I fulfil all my relationships with You, I have all attainments from You. Even when they are not speaking, their eyes and their faces speak. So, check: Have I become one who has a loving intellect at the time of destruction, that is, do I have love for the One and do I have a constant and stable stage?

When you look at the sun, you definitely see its rays. In the same way, if you constantly stay in front of the Father, the Sun of Knowledge, that is, if you truly have a loving intellect, then you will experience the rays of all virtues from the Sun of Knowledge. On the faces of those who have such loving intellects, there will be the sparkle of introspection and, along with that, the intoxication of all types of self-respect of the confluence age and of the future.

If you always have the awareness that your body can be destroyed at any time, then, by having this time of destruction in your awareness, you will automatically develop a loving intellect. When the time of destruction comes, even those who do not have knowledge definitely try to remember the Father but, because of not having His introduction, they are unable to connect their love with Him. If you always keep in your awareness that these are the final moments, then, by remembering this you will not remember anyone else.

Those who constantly have loving intellects cannot have any wasteful or sinful thoughts that go against shrimat in their minds. Those who have such loving intellects become victorious jewels. Let there not be any type of love in any way for bodily beings, otherwise you will come into the list of those who have divorced intellects. The children who have a loving intellect and always fulfil the relationship of love receive the attainment of all types of happiness in the world for all the time. BapDada sings praise day and night of such children who fulfil the responsibility of love. He sits all others in the land of liberation and gives the fortune of the kingdom of the world to those who fulfil the responsibility of love.

Let there be true love in the heart for the one Father and Maya will never disturb you. She will be destroyed. However, if there isn’t true love in the heart; if you are simply holding the Father’s hand, but have not taken His support, then you will continue to be hurt by Maya. You have died alive and taken a new birth and adopted new sanskars, so then why should there be love for the clothes of the old sanskars? Why should the children love the things that the Father does not love? So, be one with a loving intellect and finish for all the time the old accounts of weaknesses, the defects, the lack of power and the sensitive nature from within. Do not put aside the costume that is studded with jewels and have love for the old, worn out costume.

Some children connect their love but fulfil it numberwise. Their line changes in terms of fulfilling that responsibility. They have one aim but their qualifications are different. If you lack something in fulfilling your responsibility in even one relationship, for instance, if you have 75% relationship with the Father and 25% with another soul, then, too, you cannot be in the list of those who fulfil their responsibility. To fulfil a responsibility means to fulfil it completely. No matter what the situations of your mind, body or those in connection with you are like, do not remember any soul even in your thoughts. When you have the awareness of any soul even in your thoughts, then an account is created of that second – this is the deep philosophy of karma.

Some children are even now engaged in trying to develop love and this is why they say that they are unable to have yoga. Those who have yoga for a short time and then break it are said to be those who are trying to develop their love. Those who fulfil the responsibility of love are lost in love. They have completely lost all awareness of their bodies and the relationships of their bodies. So, you too have to fulfil such a responsibility of love with the Father and you will then not remember your body or bodily relations.

Blessing: May you increase your account of accumulation by paying attention to your treasures of time and thoughts and become a multi-millionaire.
You have, in fact, many treasures but you have to pay special attention to your treasures of time and thoughts. Let your thoughts be elevated and pure at every moment and your account of accumulation will continue to increase. At the present time, when you accumulate one, you receive multi-million fold. This is the calculation. This is the bank that gives you a return of multimillions for one. Therefore, no matter what, even if you have to renounce something, if you have to do tapasya, if you have to become humble, no matter what happens, pay attention to these two things and you will become a multimillionaire.
Slogan: Serve with the power of your mind and you will receive a reward many times greater.

 

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

With the power of remembrance and avyakt power, Father Brahma controlled both his mind and intellect. He controlled his mind and intellect with a powerful brake and experienced the seed stage. In the same way, you children also have to apply the brake and use your steering power and then the power of your intellect will not be wasted. The more energy you accumulate, the more your powers to discern and decide will increase.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 January 2019

To Read Murli 26 January 2019 :- Click Here
27-01-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 15-04-84 मधुबन

स्नेही, सहयोगी, शक्तिशाली बच्चों की तीन अवस्थाएं

बापदादा सभी स्नेही, सहयोगी और शक्तिशाली बच्चों को देख रहे हैं। स्नेही बच्चों में भी भिन्न-भिन्न प्रकार के स्नेह वाले हैं। एक हैं – दूसरों की श्रेष्ठ जीवन को देख, दूसरों का परिवर्तन देख उससे प्रभावित हो स्नेही बनना। दूसरे हैं – किसी न किसी गुण की, चाहे सुख वा शान्ति की थोड़ी-सी अनुभव की झलक देख स्नेही बनना। तीसरे हैं संग अर्थात् संगठन का, शुद्ध आत्माओं का सहारा अनुभव करने वाली स्नेही आत्मायें। चौथे हैं – परमात्म स्नेही आत्मायें। स्नेही सब हैं लेकिन स्नेह में भी नम्बर हैं। यथार्थ स्नेही अर्थात् बाप को यथार्थ रीति से जान स्नेही बनना।

ऐसे ही सहयोगी आत्माओं में भी भिन्न-भिन्न प्रकार के सहयोगी हैं। एक हैं – भक्ति के संस्कार प्रमाण सहयोगी। अच्छी बातें हैं, अच्छा स्थान है, अच्छी जीवन वाले हैं, अच्छे स्थान पर करने से अच्छा फल मिलता है, इसी आधार पर, इसी आकर्षण से सहयोगी बनना अर्थात् अपना थोड़ा-बहुत तन-मन-धन लगाना। दूसरे हैं – ज्ञान वा योग की धारणा के द्वारा कुछ प्राप्ति करने के आधार पर सहयोगी बनना। तीसरे हैं – एक बाप दूसरा न कोई। एक ही बाप है, एक ही सर्व प्राप्ति का स्थान है। बाप का कार्य सो मेरा कार्य है। ऐसे अपना बाप, अपना घर, अपना कार्य, श्रेष्ठ ईश्वरीय कार्य समझ सहयोगी सदा के लिए बनना। तो अन्तर हो गया ना!

ऐसे ही शक्तिशाली आत्मायें, इसमें भी भिन्न-भिन्न स्टेज वाले हैं – सिर्फ ज्ञान के आधार पर जानने वाले कि मैं आत्मा शक्ति स्वरूप हूँ, सर्वशक्तिमान बाप का बच्चा हूँ – यह जानकर प्रयत्न करते हैं शक्तिशाली स्थिति में स्थित होने का। लेकिन सिर्फ जानने तक होने कारण जब यह ज्ञान की प्वाइंट स्मृति में आती है, उस समय शक्तिशाली प्वाइंट के कारण वह थोड़ा-सा समय शक्तिशाली बनते फिर प्वाइंट भूली, शक्ति गई। जरा भी माया का प्रभाव, ज्ञान भुलाए निर्बल बना देता है। दूसरे हैं – ज्ञान का चिन्तन भी करते, वर्णन भी करते, दूसरों को शक्तिशाली बातें सुनाते, उस समय सेवा का फल मिलने के कारण अपने को उतना समय शक्तिशाली अनुभव करते हैं लेकिन चिन्तन के समय तक वा वर्णन के समय तक, सदा नहीं। पहली चिन्तन की स्थिति, दूसरी वर्णन की स्थिति।

तीसरे हैं – सदा शक्तिशाली आत्मायें। सिर्फ चिन्तन और वर्णन नहीं करते लेकिन मास्टर सर्वशक्तिवान स्वरूप बन जाते। स्वरूप बनना अर्थात् समर्थ बनना। उनके हर कदम, हर कर्म स्वत: ही शक्तिशाली होते हैं। स्मृति स्वरूप हैं इसलिए सदा शक्तिशाली स्थिति है। शक्तिशाली आत्मा सदा अपने को सर्वशक्तिमान बाप के साथ, कम्बाइन्ड अनुभव करेगी और सदा श्रीमत का हाथ छत्रछाया के रूप में अनुभव होगा। शक्तिशाली आत्मा, सदा दृढ़ता की चाबी के अधिकारी होने कारण सफलता के खजाने के मालिक अनुभव करते हैं। सदा सर्व प्राप्तियों के झूलों में झूलते रहते हैं। सदा अपने श्रेष्ठ भाग्य के मन में गीत गाते रहते हैं। सदा रूहानी नशे में होने कारण पुरानी दुनिया की आकर्षण से सहज परे रहते हैं। मेहनत नहीं करनी पड़ती है। शक्तिशाली आत्मा का हर कर्म, बोल स्वत: और सहज सेवा कराता रहता है। स्व परिवर्तन वा विश्व परिवर्तन शक्तिशाली होने के कारण सफलता हुई पड़ी है, यह अनुभव सदा ही रहता है। किसी भी कार्य में क्या करें, क्या होगा यह संकल्प मात्र भी नहीं होगा। सफलता की माला सदा जीवन में पड़ी हुई है। विजयी हूँ, विजय माला का हूँ। विजय जन्म सिद्ध अधिकार है, यह अटल निश्चय स्वत: और सदा रहता ही है। समझा! अब अपने आप से पूछो मैं कौन? शक्तिशाली आत्मायें मैनारिटी हैं। स्नेही, सहयोगी उसमें भी भिन्न-भिन्न वैराइटी वाले मैजारिटी हैं। तो अब क्या करेंगे? शक्तिशाली बनो। संगमयुग का श्रेष्ठ सुख अनुभव करो। समझा! सिर्फ जानने वाले नहीं, पाने वाले बनो। अच्छा-

अपने घरे में आये वा बाप के घर में आये। पहुँच गये, यह देख बापदादा खुश होते हैं। आप भी बहुत खुश हो रहे हैं ना। यह खुशी सदा कायम रहे। सिर्फ मधुबन तक नहीं – संगमयुग ही साथ रहे। बच्चों की खुशी में बाप भी खुश है। कहाँ-कहाँ से चलकर, सहन कर पहुँच तो गये ना। गर्मी-सर्दी, खान-पान सबको सहन कर पहुँचे हो। धूल मिट्टी की वर्षा भी हुई। यह सब पुरानी दुनिया में तो होता ही है। फिर भी आराम मिल गया ना। आराम किया? तीन फुट नहीं तो दो फुट जगह तो मिली। फिर भी अपना घर दाता का घर मीठा लगता है ना। भक्ति मार्ग की यात्राओं से तो अच्छा स्थान है। छत्रछाया के अन्दर आ गये। प्यार की पालना में आ गये। यज्ञ की श्रेष्ठ धरनी पर पहुँचना, यज्ञ के प्रसाद का अधिकारी बनना, कितना महत्व है। एक कणा, अनेक मूल्यों के समान है। यह तो सब जानते हो ना! वह तो प्रसाद का एक कणा मिलने के प्यासे हैं और आपको तो ब्रह्मा भोजन पेट भरकर मिलेगा। तो कितने भाग्यवान हो। इस महत्व से ब्रह्मा भोजन खाना तो सदा के लिए मन भी महान बन जायेगा।

अच्छा- सबसे ज्यादा पंजाब आया है। इस बारी ज्यादा क्यों भागे हो? इतनी संख्या कभी नहीं आई है। होश में आ गये! फिर भी बापदादा ये ही श्रेष्ठ विशेषता देखते – पंजाब में सतसंग और अमृतवेले का महत्व है। नंगे पाव भी अमृतवेले पहुँच जाते हैं। बापदादा भी पंजाब निवासी बच्चों को, इसी महत्व को जानने वालों की महानता से देखते हैं। पंजाब निवासी अर्थात् सदा संग के रूहानी रंग में रंगे हुए। सदा सत के संग में रहने वाले। ऐसे हो ना? पंजाब वाले सभी अमृतवेले समर्थ हो मिलन मनाते हो? पंजाब वालों में अमृतवेले का आलस्य तो नहीं है ना? झुटके तो नहीं खाते हो? तो पंजाब की विशेषता सदा याद रखना। अच्छा-

ईस्टर्न ज़ोन भी आया है, ईस्ट की विशेषता क्या होती है? (सनराइज) सूर्य सदा उदय होता है। सूर्य अर्थात् रोशनी का पुंज। तो सभी ईस्टर्न ज़ोन वाले मास्टर ज्ञान सूर्य हैं। सदा अंधकार को मिटाने वाले, रोशनी देने वाले हैं ना! यह विशेषता है ना। कभी माया के अंधकार में नहीं आने वाले। अंधकार मिटाने वाले मास्टर दाता हो गये ना! सूर्य दाता है ना। तो सभी मास्टर सूर्य अर्थात् मास्टर दाता बन विश्व को रोशनी देने के कार्य में बिजी रहते हो ना। जो स्वयं बिजी रहते हैं, फुर्सत में नहीं रहते, माया को भी उन्हों के लिए फुर्सत नहीं होती। तो ईस्टर्न ज़ोन वाले क्या समझते हो? ईस्टर्न ज़ोन में माया आती है? आती भी है तो नमस्कार करने आती या मिक्की माउस बना देती है? क्या मिक्की माउस का खेल अच्छा लगता है? ईस्टर्न ज़ोन की गद्दी है बाप की गद्दी। तो राजगद्दी हो गई ना। राज-गद्दी वाले राज़े होंगे या मिक्की माउस होंगे? तो सभी मास्टर ज्ञान सूर्य हो? ज्ञान सूर्य उदय भी वहीं से हुआ है ना। इस्ट से ही उदय हुआ। समझा – अपनी विशेषता। प्रवेशता की श्रेष्ठ गद्दी के अर्थात् वरदानी स्थान की श्रेष्ठ आत्मायें हो। यह विशेषता किसी और ज़ोन में नहीं है। तो सदा अपनी विशेषता को विश्व की सेवा में लगाओ। क्या विशेषता करेंगे? सदा मास्टर ज्ञान सूर्य। सदा रोशनी देने वाले मास्टर दाता। अच्छा – सभी मिलने आये हैं, सदा श्रेष्ठ मिलन मनाते रहना। मेला अर्थात् मिलना। एक सेकण्ड भी मिलन मेले से वंचित नहीं होना। निरन्तर योगी का अनुभव पक्का करके जाना। अच्छा-

सदा एक बाप के स्नेह में रहने वाले, स्नेही आत्मओं को, हर कदम ईश्वरीय कार्य के सहयोगी आत्माओं को, सदा शक्तिशाली स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं को, सदा विजय के अधिकार को अनुभव करने वाले, विजयी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से:- एक बल और एक भरोसे से सदा उन्नति को पाते रहो। सदा एक बाप के हैं, एक बाप की श्रीमत पर चलना है। इसी पुरुषार्थ से आगे बढते चलो। अनुभव करो श्रेष्ठ ज्ञान स्वरूप बनने का। महान योगी बनने का, गहराई में जाओ। जितना ज्ञान की गहराई में जायेंगे उतना अमूल्य अनुभव के रत्न प्राप्त करेंगे। एकाग्र बुद्धि बनो। जहाँ एकाग्रता है वहाँ सर्व प्राप्तियों का अनुभव है। अल्पकाल की प्राप्ति के पीछे नहीं जाओ। अविनाशी प्राप्ति करो। विनाशी बातों में आकर्षित नहीं हो। सदा अपने को अविनाशी खजाने के मालिक समझ बेहद में आओ। हद में नहीं आओ। बेहद का मज़ा और हद की आकर्षण का मजा इसमें रात-दिन का फ़र्क है इसलिए समझदार बन समझ से काम लो और वर्तमान तथा भविष्य श्रेष्ठ बनाओ।

चुने हुए विशेष अव्यक्त महावाक्य – प्रीत बुद्धि विजयी रत्न बनो

प्रीत बुद्धि अर्थात् सदा अलौकिक अव्यक्त स्थिति में रहने वाले अल्लाह लोग। जिनका हर संकल्प, हर कार्य अलौकिक हो, व्यक्त देश और कर्तव्य में रहते हुए भी कमल पुष्प के समान न्यारे और एक बाप के सदा प्यारे रहना – यह है प्रीत बुद्धि बनना। प्रीत बुद्धि अर्थात् विजयी। आपका स्लोगन भी है विनाश काले प्रीत बुद्धि विजयन्ती और विनाश काले विपरीत बुद्धि विनश्यन्ती। जब यह स्लोगन दूसरों को सुनाते हो कि विनाश काले विपरीत बुद्धि मत बनो, प्रीत बुद्धि बनो तो अपने को भी देखो – हर समय प्रीत बुद्धि रहते हैं? कभी विपरीत बुद्धि तो नहीं बनते हैं?

प्रीत बुद्धि वाले कभी श्रीमत के विपरीत एक संकल्प भी नहीं उठा सकते। अगर श्रीमत के विपरीत संकल्प, वचन वा कर्म होता है तो उसको प्रीत बुद्धि नहीं कहेंगे। तो चेक करो हर संकल्प वा वचन श्रीमत प्रमाण है? प्रीत बुद्धि अर्थात् बुद्धि की लगन वा प्रीत एक प्रीतम के साथ सदा लगी हुई हो। जब एक के साथ सदा प्रीत है तो अन्य किसी भी व्यक्ति वा वैभवों के साथ प्रीत जुट नहीं सकती क्योंकि प्रीत बुद्धि अर्थात् सदा बापदादा को अपने सम्मुख अनुभव करने वाले। ऐसे सम्मुख रहने वाले कभी विमुख नहीं हो सकते।

प्रीत बुद्धि वालों के मुख से, उनके दिल से सदैव यही बोल निकलेंगे -तुम्हीं से खाऊं, तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से बोलूँ, तुम्हीं से सुनूँ, तुम्हीं से सर्व सम्बन्ध निभाऊं, तुम्हीं से सर्व प्राप्ति करूं। उनके नैन, उनका मुखड़ा न बोलते हुए भी बोलता है। तो चेक करो ऐसे विनाश काले प्रीत बुद्धि बने हैं अर्थात् एक ही लगन में एकरस स्थिति वाले बने हैं?

जैसे सूर्य के सामने देखने से सूर्य की किरणें अवश्य आती हैं-इसी प्रकार अगर ज्ञान सूर्य बाप के सदा सम्मुख रहते हैं अर्थात् सच्ची प्रीत बुद्धि है तो ज्ञान सूर्य के सर्व गुणों की किरणें अपने में अनुभव करेंगे। ऐसे प्रीत बुद्धि बच्चों की सूरत पर अन्तर्मुखता की झलक और साथ-साथ संगमयुग के वा भविष्य के सर्व स्वमान की फलक रहती है।

अगर सदा यह स्मृति रहे कि इस तन का किसी भी समय विनाश हो सकता है तो यह विनाश काल स्मृति में रहने से प्रीत बुद्धि स्वत: हो ही जायेंगे। जैसे विनाश काल आता है तो अज्ञानी भी बाप को याद करने का प्रयत्न जरूर करते हैं लेकिन परिचय के बिना प्रीत जुट नहीं पाती। अगर सदा यह स्मृति में रखो कि यह अन्तिम घड़ी है, तो यह याद रहने से और कोई भी याद नहीं आयेगा।

जो सदा प्रीत बुद्धि हैं उनकी मन्सा में भी श्रीमत के विपरीत व्यर्थ संकल्प वा विकल्प नहीं आ सकते। ऐसे प्रीत बुद्धि रहने वाले ही विजयी रत्न बनते हैं। कहाँ भी किसी प्रकार से कोई देहधारी के साथ प्रीत न हो, नहीं तो विपरीत बुद्धि की लिस्ट में आ जायेंगे। जो बच्चे प्रीत बुद्धि बन सदा प्रीत की रीति निभाते हैं उन्हें सारे विश्व के सर्व सुखों की प्राप्ति सदाकाल के लिए होती है। बापदादा ऐसे प्रीत निभाने वाले बच्चों के दिन रात गुण-गान करते हैं। अन्य सभी को मुक्तिधाम में बिठाकर प्रीत की रीति निभाने वाले बच्चों को विश्व का राज्य भाग्य प्राप्त कराते हैं।

एक बाप के साथ दिल की सच्ची प्रीत हो तो माया कभी डिस्टर्ब नहीं करेगी। उसका डिस्ट्रक्शन हो जायेगा। लेकिन अगर सच्चे दिल की प्रीत नहीं है, सिर्फ बाप का हाथ पकड़ा है साथ नहीं लिया है तो माया द्वारा घात होता रहेगा। जब मरजीवा बने, नया जन्म, नये संस्कारों को धारण किया तो पुराने संस्कार रूपी वस्त्रों से प्रीत क्यों? जो चीज़ बाप को प्रिय नहीं वह बच्चों को क्यों? इसलिए प्रीत बुद्धि बन अन्दर की कमजोरी, कमी, निर्बलता और कोमलता के पुराने खाते को सदाकाल के लिए समाप्त कर दो। रत्नजड़ित चोले को छोड़ जड़-जड़ीभूत चोले से प्रीत नहीं रखो।

कई बच्चे प्रीति जुटा लेते हैं लेकिन निभाते नम्बरवार हैं। निभाने में लाइन बदली हो जाती है। लक्ष्य एक होता है लक्षण दूसरे हो जाते हैं। कोई एक सम्बन्ध में भी अगर निभाने में कमी हो गई मानों 75 परसेन्ट सम्बन्ध बाप से हैं और 25 परसेन्ट सम्बन्ध कोई एक आत्मा से है तो भी निभाने वाले की लिस्ट में नहीं आ सकते। निभाना माना निभाना। कैसी भी परिस्थिति हो, चाहे मन की, तन की या सम्पर्क की, लेकिन कोई आत्मा संकल्प में भी याद न आये। संकल्प में भी कोई आत्मा की स्मृति आई तो उसी सेकेण्ड का भी हिसाब बनता है, यह कर्मो की गुह्य गति है।

कोई-कोई बच्चे अभी तक प्रीति लगाने में लगे हुए हैं, इसलिये कहते है कि योग नहीं लगता। जिसका थोड़ा समय योग लगता है फिर टूटता है – ऐसे को कहेंगे प्रीति लगाने वाले। जो प्रीति निभाने वाले होते हैं वह प्रीति में खोये हुए होते हैं। उनको देह की और देह के सम्बन्धियों की सुध-बुध भूली हुई होती है तो आप भी बाप के साथ ऐसी प्रीति निभाओ तो फिर देह और देह के सम्बन्धी याद आ नहीं सकते।

वरदान:- समय और संकल्प रूपी खजाने पर अटेन्शन दे जमा का खाता बढ़ाने वाले पदमापदमपति भव 
वैसे खजाने तो बहुत हैं लेकिन समय और संकल्प विशेष इन दो खजानों पर अटेन्शन दो। हर समय संकल्प श्रेष्ठ और शुभ हो तो जमा का खाता बढ़ता जायेगा। इस समय एक जमा करेंगे तो पदम मिलेगा, हिसाब है। एक का पदमगुणा करके देने की यह बैंक है इसलिए क्या भी हो, त्याग करना पड़े, तपस्या करनी पड़े, निर्मान बनना पड़े, कुछ भी हो जाए….इन दो बातों पर अटेन्शन हो तो पदमापदमपति बन जायेंगे।
स्लोगन:- मनोबल से सेवा करो तो उसकी प्रालब्ध कई गुणा ज्यादा मिलेगी।

 

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप ने याद की शक्ति वा अव्यक्ति शक्ति द्वारा मन और बुद्धि दोनों को कन्ट्रोल किया। पावरफुल ब्रेक द्वारा मन और बुद्धि को कन्ट्रोल कर बीजरूप स्थिति का अनुभव किया। ऐसे आप बच्चे भी ब्रेक देने और मोड़ने की शक्ति धारण कर लो तो बुद्धि की शक्ति व्यर्थ नहीं जायेगी। जितनी एनर्जी जमा होगी उतना ही परखने की, निर्णय करने की शक्ति बढ़ेगी।

Font Resize