daily murli 27 december

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 December 2020

27/12/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/12/86

The way to make your past, present and future elevated.

Today, the great-great-grandfather (Brahma) and Godthe Father (Shiva) are giving greetings of blessings from their hearts to their sweet and extremely lovely children. BapDada knows how elevated and great each and every long-lost and now-found child is. The greatness and purity of every child continue to reach the Father numberwise. Today, all of you have especially come to celebrate the New Year with zeal and enthusiasm. In order to celebrate, people of the world ignite unused lamps or candles. They celebrate by igniting them, whereas BapDada is celebrating the New Year with the countless lamps who are already ignited. He does not light those who have been extinguished or blow out those who are ignited. No one except the Father and you children can celebrate the New Year in this way in a gathering of hundreds and thousands of such ignited, spiritual lights. This is such a beautiful scene of the spiritual gathering of sparkling lamps. Each one’s spiritual lamp is sparkling constantly and steadily. “One Baba” in each one’s mind is enabling all you spiritual lamps to sparkle. You have the one world, you have the one thought and you have a constant and stable stage: this is what it means to celebrate. This is what it means to become that and make others that. At this time, it is the confluence of both farewell (vidaai) and greetings (badhaai). It is farewell to the old and greetings to the new. All of you come here at this confluence. Therefore, congratulations for bidding farewell to your old thoughts and sanskars and also congratulations for flying with new zeal and enthusiasm.

The present moment will become the past after a short time. The year that you are now passing through will become the past after midnight. The moment now (today) is called the present, and tomorrow is the future. The play of the past, present and future continues to take place. Use all these three words in this New Year in a new way. How? Let the past become the pastby always passing with honours. Of course, it will be “past is past”, but how are you going to pass through it? You say that the time passed by, that this scene passed by. However, did you pass through that whilst passing with honours? You made the past become the past, but did you pass through the past in such an elevated way that, as soon as you remember the past, the words “Wah, wah!” emerge from your heart? Did you make the past become the past in such a way that others can learn a lesson from your story of the past? Let your past become the form of a memorial, let it become a devotional song (kirtan), that is, let it be worth singing praise of, just as devotees on the path of devotion continue to sing devotional songs of your actions. The songs of praise of your actions are even now creating the livelihoods of many souls. In this New Year, let every thought and every moment become the past in this way. Do you understand what you have to do?

Now, come into the present. Make the present so practical that everyone receives one present (gift) or other from you special souls at every present moment and thought. When do people experience the most happiness? When they receive a present from someone. No matter how peaceless, sorrowful or distressed they may be, when they are given a present with love, there is a wave of happiness at that moment. Not a superficial present but a present given from the heart. Everyone always considers a present to be a symbol of love. The value of anything given as a present is in the love with which it is given, not in the thing itself. Therefore, continue to make progress with the method of giving presents. Do you understand? Is this easy or difficult? Your treasure store is full, is it not? Or, is it that by giving presents, your treasure store would be reduced? You have accumulated some stock, have you not? Simply give presents of one second’s drishti with love, co-operation with love, feelings of love, sweet words and elevated thoughts from your heart. These presents are enough. Nowadays, the devotees of you Brahmins souls, those who are in connection and relationship with you and distressed souls all need these presents, not any other presents. You have a stock of these, do you not? So, become bestowers as every present moment changes into the past and all types of souls will then continue to sing songs of your praise from their hearts. Achcha.

What will you do in the future? Everyone asks you: Ultimately, what is the future? Reveal the future through your features. Let your features create the future. What will the future be like? What will people’s eyes be like in the future? What will smiles be like in the future? What will relationships be like in the future? What will life be like in the future? Let your features grant a vision of all of these things. Let your drishti clearly reveal the world of the future. Let the question “What will happen?” finish and change into “It will be like this.” Let the word “How?” change into “Like this.” In the future there are deities. The sanskars of a deity means the sanskars of a bestower. The sanskars of a bestower means the sanskars of one with a crown and seated on a throne. Let whoever sees you experience your crown and throne. Which crown? The crown of light that enables you to remain constantlylight. Let the signs of spiritual intoxication and a carefree stage always be experienced from your actions and words. The sign of being seated on a throne is to be carefree and to have intoxication. The intoxication of having victory guaranteed and a carefree stage is the sign of a soul who is seated on the Father’s heart throne. Let whoever comes experience you being seated on the heart-throne and your stage of wearing a crown. This is what it means to reveal the future through your features. Celebrate the New Year in this way, that is, become this and make others the same too. Do you understand what you have to do in the New Year? In three words become master trimurti, master trikaldarshi and trilokinath. Everyone is now wondering: What are we going to do now? Through your every step, whether it is through remembrance or service, continue to attain success in all three ways.

You have a lot of zeal and enthusiasm for the New Year, do you not? Double foreigners have double enthusiasm. How many facilities will you use to celebrate the New Year? Those people use perishable facilities and have temporary entertainment. One moment they will light a candle and the next moment they will blow it out. However, BapDada is eternally celebrating with you children who attain eternal success. What will all of you also do? Cut a cake, light candles, sing songs and clap. Do this a lot too. You may do this. However, BapDada always gives the eternal children imperishable congratulations and shows you a method to make you imperishable. Seeing you celebrate in the corporeal world with physical festivities, BapDada is also pleased, because it is only once in the whole cycle that you find such a beautiful family, where everyone in the whole family of a gathering of hundreds and thousands is wearing a crown and seated on a throne. Therefore, dance, sing and eat toli as much as you want. The Father is pleased just to see the children and to take the fragrance of it all. What songs are playing in each one’s mind? Songs of happiness are playing. Always sing songs of “Wah, wah! Wah Baba! Wah my fortune! Wah, my sweet family! Wah, the beautiful time of the elevated confluence age.” Every action is “Wah, wah!” Continue to sing songs of “Wah, wah!” Today, BapDada was smiling because some children, instead of singing songs of “Wah, wah”, were singing other songs. They were songs of just two words. Do you know what they were? This year, do not sing songs of those two words. Those two words are “Why?” and “I“. Generally, whenever BapDada watches the TV of the children, instead of them saying, “Wah, wah”, the children are saying, “Why? Why?” So, instead of “Why?” say, “Wah, wah” and, instead of “I”, say, “Baba, Baba”. Do you understand?

Whoever you are, whatever you are like, BapDada loves you and this is why all of you come running to meet Baba with love. At amrit vela, all the children always sing the song, “Lovely Baba, sweet Baba”, and in return, BapDada sings the song, “Lovely children, lovely children”. Achcha. In fact, this year is the year to learn the lesson of becoming detached and loving. Nevertheless, the children’s loving invocation of the Father brings Him from the nyari (detached, unique) world into the pyari (loving) world. There is no need to consider all of these things in the subtle form. Meeting in the subtle form, Baba gives all the unlimited children the feeling of an unlimited meeting at the one time. With a physical method, there are still limits. What do the children want after all? Murli and drishti. Even when Baba is speaking the murli, that too, is a meeting. Whether Baba speaks to individuals or to everyone together, Baba is going to say the same thing. Whatever Baba says to the gathering, He will say the same to individuals. Nevertheless, you double foreigners have been given the first chance. The children of Bharat are waiting for the 18th of January, whereas you have taken the first chance. Achcha. Children have come from 35 or 36 countries. This is also the 36 varieties of bhog. There is a memorial of the number 36. So, there are at least 36 varieties.

BapDada is pleased to see the zeal and enthusiasm that you children have for service. All of you used your body, mind, wealth and time for service with love and courage. Therefore, BapDada is giving you multimillionfold congratulations for that. Whether you are physically in front of Baba or whether you are present in a subtle form, BapDada is giving all the children congratulations for being absorbed in service with so much love. You became co-operative and made others co-operative. Therefore, double congratulations for being co-operative and making others co-operative. The garland of the children’s news of service filled with zeal and enthusiasm and also their New Year cards filled with zeal and enthusiasm has been put around BapDada’s neck. Whoever sent the cards, in return for those cards, BapDada gives both regard and love. Baba is pleased to hear all the news. Whether you served in an incognito way or in a visible way, there is always success in the service of revealing the Father. The result of serving with love – to become co-operative souls and to come close in the Father’s task – is a sign of success. Those who are co-operative are co-operative today and tomorrow will become yogi. So, to those who have done the special service of making souls everywhere co-operative BapDada gives the blessing, “May you be an eternal embodiment of success”. Achcha.

When the number of your subjects – those who are co-operative and in a relationship with you – increase, then, according to that increases, the method also has to change, does it not? You are happy, are you not? Let it increase! Achcha.

To those who are constantly loving and co-operative and who make others co-operative, to those who always receive greetings, to those who make every second and every thought the most elevated of all and worthy of praise, to those who constantly become bestowers and give others love and co-operation, to such elevated, great, fortunate souls, BapDada’s love and remembrance and good night and good morning at the confluence.

Avyakt BapDada speaking to teachers on Foreign Service:

BapDada always makes the instrument server teachers move forward with the blessing, “May you be equal!” BapDada always thinks of all the Pandavas and Shaktis, whatever service they are instruments for, as those who are multimillion times fortunate, elevated souls. You definitely especially experience the visible fruit of service in the form of happiness and power. Now, to the extent that you yourselves become powerful lighthouses and might-houses and do service, so the flag of revelation will accordingly be hoisted everywhere. Each instrument server has to pay special attention to two things for success in service. 1. Always have the unity of harmonising sanskars, for this speciality has to be visible in every place. 2. First of all, each of you instrument servers has to give these two certificates to yourselves. 1) Unity. 2) Contentment. Sanskars are always different and will always be different, but it depends on you yourselves, whether there is a conflict of sanskars or whether you step away and keep yourself safe. When something happens, if one person’s sanskars are like that, then the other person should not clap (not respond). Whether the other person changes or not, you can change, can you not? If each one of you changes yourself and imbibes the power to accommodate, then the sanskars of the other person will definitely cool down. So, always connect with one another with feelings of love and greatness, because the instrument servers are the mirror of the Father’s image. So, whatever is your practical life becomes a mirror of the Father’s image and so always be the mirror of a life in which the Father is visible as He is and what He is. Otherwise, however, you are all making very good effort and you also have good courage. You have good enthusiasm for the expansion of service and expansion is therefore taking place. Service is good, but now, in order to reveal the Father, always show the proof of your practical lives, so that everyone says the same thing: that all of you are the same when it comes to the inculcating knowledge and that you are also number one in harmonising sanskars. It isn’t that the teachers of India are different from the teachers abroad. All are the same. It is just that you are all instruments for service and are co-operating in the task of establishment; you are also giving your co-operation now, and so you automatically have to play a special part in everything. In fact, BapDada and the instrument souls do not see any difference in those from abroad or those here. Wherever there is a need for someone’s speciality, then it doesn’t matter who it is, there is benefit from that one’s speciality. To give regard to one another is a code of conduct of the Brahmin clan. Receive love and give regard. Importance is given to a person’s speciality rather than to the person. Achcha.

Blessing: May you be an invaluable jewel who spends every second and every thought in an invaluable way.
Even one second of the confluence age has great value. Just as you receive one hundred thousand in return for one, in the same way, if even one second is wasted, then one hundred thousand are wasted. So, pay this much attention and finish all carelessness. There is at present no one to account for anything, but after some time, there will be repentance, because this time has a lot of value. Those who use their every second and every thought in an invaluable way become invaluable jewels.
Slogan: Those who are always yogyukt experience receiving co-operation and become victorious jewels.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-12-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 31-12-86 मधुबन

पास्ट, प्रेजन्ट और फ्यूचर को श्रेष्ठ बनाने की विधि

आज ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर और गॉड-फादर अपने अति मीठे, अति प्यारे बच्चों को दिल से दुआओं की ग्रीटिंग्स दे रहे हैं। बापदादा जानते हैं कि एक-एक सिकीलधा बच्चा कितना श्रेष्ठ, महान आत्मा हैं! हर बच्चे की महानता-पवित्रता बाप के पास नम्बरवार पहुँचती रहती है। आज के दिन सभी विशेष नया वर्ष मनाने के उमंग-उत्साह से आये हुए हैं। दुनिया के लोग मनाने के लिए बुझे हुए दीप वा मोमबत्तियाँ जगाते हैं। वह जगाकर मनाते हैं और बाप-दादा जगे हुए अनगिनत दीपकों से नया वर्ष मना रहे हैं। बुझे हुए को जगाते नहीं और जगाकर फिर बुझाते नहीं। ऐसा लाखों की अन्दाज में जगे हुए रूहानी ज्योति के संगठन का वर्ष मनाना – यह सिवाए बाप और आपके कोई मना नहीं सकता। कितना सुन्दर जगमगाते दीपकों के रूहानी संगठन का दृश्य है! सबकी रूहानी ज्योति एकटिक, एकरस चमक रही है। सबके मन में ‘एक बाबा’ – यही लगन रूहानी दीपक को जगमगा रही है। एक संसार है, एक संकल्प है, एकरस स्थिति है – यही मनाना है, यही बनकर बनाना है। इस समय विदाई और बधाई दोनों का संगम है। पुराने की विदाई है और नये को बधाई है। इस संगम समय पर सभी पहुँच गये हैं इसलिए, पुराने संकल्प और संस्कार के विदाई की भी मुबारक है और नये उमंग-उत्साह से उड़ने की भी मुबारक है।

जो प्रेजेन्ट है, वह कुछ समय के बाद पास्ट हो जायेगा। जो वर्ष चल रहा है, वह 12.00 बजे के बाद पास्ट हो जाएगा। इस समय को प्रेजन्ट कहेंगे और कल को फ्यूचर (भविष्य) कहते हैं। पास्ट, प्रेजन्ट और फ्यूचर – इन तीनों का ही खेल चलता रहता है। इन तीनों शब्दों को इस नये वर्ष में नई विधि से प्रयोग करना। कैसे? पास्ट को सदा पास विद् ऑनर होकर के पास करना। “पास्ट इज पास्ट” तो होना ही है लेकिन कैसे पास करना है? कहते हो ना – समय पास हो गया, यह दृश्य पास हो गया। लेकिन पास विद् ऑनर बन पास किया? बीती को बीती किया लेकिन बीती को ऐसी श्रेष्ठ विधि से बीती किया जो बीती को स्मृति में लाते ‘वाह! वाह!’ के बोल दिल से निकलें? बीती को ऐसे बीती किया जो अन्य आपकी बीती हुई स्टोरी से पाठ पढ़ें? आपकी बीती यादगार-स्वरूप बन जाये, कीर्तन अर्थात् कीर्ति गाते रहें। जैसे भक्ति-मार्ग में आपके ही कर्म का कीर्तन गाते रहते हैं। आपके कर्म के कीर्तन से अनेक आत्माओं का अब भी शरीर निर्वाह हो रहा है। इस नये वर्ष में हर पास्ट संकल्प वा समय को ऐसी विधि से पास करना। समझा, क्या करना है?

अब आओ प्रेजन्ट (वर्तमान), प्रेजन्ट को ऐसे प्रैक्टिकल में लाओ जो हर प्रेजन्ट घड़ी वा संकल्प से आप विशेष आत्माओं द्वारा कोई न कोई प्रेजेन्ट (सौगात) प्राप्त हो। सबसे ज्यादा खुशी किस समय होती है? जब किससे प्रेजेन्ट (सौगात) मिलती है। कैसा भी अशान्त हो, दु:खी हो या परेशान हो लेकिन जब कोई प्यार से प्रेजेन्ट देता है तो उस घड़ी खुशी की लहर आ जाती है। दिखावे की प्रेजेन्ट नहीं, दिल से। सभी प्रेजेन्ट (सौगात) को सदा स्नेह की सूचक मानते हैं। प्रेजेन्ट दी हुई चीज़ में वैल्यू ‘स्नेह’ की होती है, ‘चीज़’ की नहीं। तो प्रेजन्ट देने की विधि से वृद्धि को पाते रहना। समझा? सहज है या मुश्किल है? भण्डारे भरपूर हैं ना या प्रेजेन्ट देते-देते भण्डारा कम हो जायेगा? स्टॉक जमा है ना? सिर्फ एक सेकण्ड के स्नेह की दृष्टि, स्नेह का सहयोग, स्नेह की भावना, मीठे बोल, दिल के श्रेष्ठ संकल्प का साथ – यही प्रेजेन्ट्स बहुत हैं। आजकल चाहे आपस में ब्राह्मण आत्मायें हैं, चाहे आपकी भक्त आत्मायें हैं, चाहे आपके सम्बन्ध-सम्पर्क वाली आत्मायें हैं, चाहे परेशान आत्मायें हैं-सभी को इन प्रेजेन्ट्स की आवश्यकता है, दूसरी प्रेजेन्ट की नहीं। इसका स्टॉक तो है ना? तो हर प्रेजन्ट घड़ी को दाता बन प्रेजन्ट को पास्ट में बदलना, तो सर्व प्रकार की आत्मायें दिल से आपका कीर्तन गाती रहेंगी। अच्छा।

फ्यूचर क्या करेंगे? सभी आप लोगों से पूछते हैं न कि आखिर भी फ्यूचर क्या है? फ्यूचर को अपने फीचर्स से प्रत्यक्ष करो। आपके फीचर्स फ्यूचर को प्रकट करें। फ्यूचर क्या होगा, फ्यूचर के नैन क्या होंगे, फ्यूचर की मुस्कान क्या होगी, फ्यूचर के सम्बन्ध क्या होंगे, फ्यूचर की जीवन क्या होगी – आपके फीचर्स इन सब बातों का साक्षात्कार करायें। दृष्टि फ्यूचर की सृष्टि को स्पष्ट करे। ‘क्या होगा’ – यह क्वेश्चन समाप्त हो ‘ऐसा होगा’, इसमें बदल जाये। ‘कैसा’ बदल ‘ऐसा’ हो जाये। फ्यूचर है ही देवता। देवतापन के संस्कार अर्थात् दातापन के संस्कार, देवतापन के संस्कार अर्थात् ताज, तख्तधारी बनने के संस्कार। जो भी देखे, उनको आपका ताज और तख्त अनुभव हो। कौनसा ताज? सदा लाइट (हल्का) रहने का लाइट (प्रकाश) का ताज। और सदा आपके कर्म से, बोल से रूहानी नशा और निश्चिन्तपन के चिन्ह अनुभव हों। तख्तधारी की निशानी है ही ‘निश्चिन्त’ और ‘नशा’। निश्चित विजयी का नशा और निश्चिन्त स्थिति – यह है बाप के दिलतख्तनशीन आत्मा की निशानी। जो भी आये, वह यह तख्तनशीन और ताजधारी स्थिति का अनुभव करे – यह है फ्यूचर को फीचर्स द्वारा प्रत्यक्ष करना। ऐसा नया वर्ष मनाना अर्थात् बनकर बनाना। समझा, नये वर्ष में क्या करना है? तीन शब्दों से मास्टर त्रिमूर्ति, मास्टर त्रिकालदर्शी और त्रिलोकीनाथ बन जाना। सब यही सोचते हैं कि अब क्या करना है? हर कदम से – चाहे याद से, चाहे सेवा के हर कदम से इन तीनों ही विधि से सिद्धि प्राप्त करते रहना।

नये वर्ष का उमंग-उत्साह तो बहुत है ना। डबल विदेशियों को डबल उमंग है ना। न्यू इयर मनाने में कितने साधन अपनायेंगे? वे लोग साधन भी विनाशी अपनाते और मनोरंजन भी अल्पकाल का करते। अभी-अभी जलायेंगे, अभी-अभी बुझायेंगे। लेकिन बापदादा अविनाशी विधि से अविनाशी सिद्धि प्राप्त करने वाले बच्चों से मना रहे हैं। आप लोग भी क्या करेंगे? केक काटेंगे, मोमबत्ती जलायेंगे, गीत गायेंगे, ताली बजायेंगे। यह भी खूब करो, भले करो। लेकिन बापदादा सदा अविनाशी बच्चों को अविनाशी मुबारक देते हैं और अविनाशी बनाने की विधि बताते हैं। साकार दुनिया में साकारी सुहेज मनाते देख बापदादा भी खुश होते हैं क्योंकि ऐसा सुन्दर परिवार जो पूरा ही परिवार ताजधारी, तख्तधारी है और इतनी लाखों की संख्या में एक परिवार है, ऐसा परिवार सारे कल्प में एक ही बार मिलता है इसलिए खूब नाचो, गाओ, मिठाई खाओ। बाप तो बच्चों को देख करके, भासना लेकर के ही खुश होते हैं। सभी के मन के गीत कौनसे बजते हैं? खुशी के गीत बज रहे हैं। सदा ‘वाह! वाह!’ के गीत गाओ। वाह बाबा! वाह तकदीर! वाह मीठा परिवार! वाह श्रेष्ठ संगम का सुहावना समय! हर कर्म ‘वाह-वाह!’ है। ‘वाह! वाह! के गीत गाते रहो। बापदादा आज मुस्करा रहे थे – कई बच्चे ‘वाह! के गीत के बजाय और भी गीत गा लेते हैं। वह भी दो शब्द का गीत है, वह जानते हो? इस वर्ष वह दो शब्दों का गीत नहीं गाना। वह दो शब्द हैं – ‘व्हाई’ और ‘आई’ (क्यों और मैं) बहुत करके बापदादा जब बच्चों की टी.वी. देखते हैं तो बच्चे ‘वाह-वाह!’ के बजाये ‘व्हाई-व्हाई’ बहुत करते हैं। तो ‘व्हाई’ के बजाय ‘वाह-वाह! कहना और ‘आई’ के बजाये ‘बाबा-बाबा’ कहना। समझा?

जो भी हो, जैसे भी हो फिर भी बापदादा के प्यारे हो, तब तो सभी प्यार से मिलने के लिए भागते हो। अमृतवेले सभी बच्चे सदा यही गीत गाते हैं – ‘प्यारा बाबा, मीठा बाबा’ और बापदादा रिटर्न में सदा ‘प्यारे बच्चे, प्यारे बच्चे’ का गीत गाते हैं। अच्छा। वैसे तो इस वर्ष न्यारे और प्यारे का पाठ है, फिर भी बच्चों के स्नेह का आह्वान बाप को भी न्यारी दुनिया से प्यारी दुनिया में ले आता है। आकारी विधि में यह सब देखने की आवश्यकता नहीं है। आकारी मिलन की विधि में एक ही समय पर अनेक बेहद बच्चों को बेहद मिलन की अनुभूति कराते हैं। साकारी विधि में फिर भी हद में आना पड़ता। बच्चों को चाहिए भी क्या – मुरली और दृष्टि। मुरली में भी मिलना ही तो है। चाहे अलग में बोलें, चाहे साथ में बोलें, बोलेंगे तो वही बात। जो संगठन में बोलते हैं वही अलग में बोलेंगे। फिर भी देखो पहला चान्स डबल विदशियों को मिला है। भारत के बच्चे 18 ता. (18 जनवरी) का इन्तजार कर रहे हैं और आप लोग पहला चान्स ले रहे हो। अच्छा। 35-36 देशों के आये हुये हैं। यह भी 36 प्रकार का भोग हो गया। 36 का गायन है ना। 36 वैराइटी हो गई है।

बापदादा सभी बच्चों का सेवा की उमंग-उत्साह को देख खुश होते हैं। जो सभी ने तन, मन, धन समय-स्नेह और हिम्मत से सेवा में लगाया, उसकी बापदादा पदमगुणा बधाई दे रहे हैं। चाहे इस समय सम्मुख हैं, चाहे आकार रूप में सम्मुख हैं लेकिन बापदादा सभी बच्चों को सेवा में लग्न से मग्न रहने की मुबारक दे रहे हैं। सहयोगी बने, सहयोगी बनाया। तो सहयोगी बनने की भी और सहयोगी बनाने की भी डबल मुबारक। कई बच्चों के सेवा के उमंग-उत्साह के समाचार और साथ-साथ नये वर्ष के उमंग-उत्साह के कार्ड की माला बापदादा के गले में पिरो गई। जिन्होंने भी कार्ड भेजे हैं, बापदादा कार्ड के रिटर्न में रिगार्ड और लव दोनों देते हैं। समाचार सुन-सुन हर्षित होते हैं। चाहे गुप्त रूप में सेवा की, चाहे प्रत्यक्ष रूप में की लेकिन बाप को प्रत्यक्ष करने की सेवा में सदा सफलता ही है। स्नेह से सेवा की रिजल्ट – सहयोगी आत्मायें बनना और बाप के कार्य में समीप आना – यही सफलता की निशानी है। सहयोगी आज सहयोगी हैं, कल योगी भी बन जायेंगे। तो सहयोगी बनाने की विशेष सेवा जो सभी ने चारों ओर की, उसके लिए बापदादा ‘अविनाशी सफलता स्वरूप भव’ का वरदान दे रहे हैं। अच्छा।

जब आपकी प्रजा, सहयोगी, सम्बन्धी वृद्धि को प्राप्त होंगे तो वृद्धि के प्रमाण विधि को भी बदलना तो पड़ता है ना। खुश होते हो ना, भले बढ़ें। अच्छा।

सर्व सदा स्नेही, सदा सहयोगी बन सहयोगी बनाने वाले, सदा बधाई प्राप्त करने वाले, सदा हर सेकण्ड, हर संकल्प को श्रेष्ठ से श्रेष्ठ, गायन-योग्य बनाने वाले, सदा दाता बन सर्व को स्नेह और सहयोग देने वाले – ऐसे श्रेष्ठ, महान् भाग्यवान आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और संगम की गुडनाइट और गुडमार्निंग।

विदेश सेवा पर उपस्थित टीचर्स प्रति – अव्यक्त महावाक्य

निमित्त सेवाधारी बच्चों को बापदादा सदा ‘समान भव’ के वरदान से आगे बढ़ाते रहते हैं। बापदादा सभी पाण्डव चाहे शक्तियां, जो भी सेवा के लिए निमित्त हैं, उन सबको विशेष पदमापदम भागयवान श्रेष्ठ आत्मायें समझते हैं। सेवा का प्रत्यक्ष फल खुशी और शक्ति, यह विशेष अनुभव तो करते ही हैं। अभी जितना स्वयं शक्तिशाली लाइट हाउस, माइट हाउस बन सेवा करेंगे उतना जल्दी चारों ओर प्रत्यक्षता का झण्डा लहरायेंगे। हर एक निमित्त सेवाधारी को विशेष सेवा की सफलता के लिए दो बातें ध्यान रखनी हैं – एक बात सदा संस्कारों को मिलाने की युनिटी का, हर स्थान से यह विशेषता दिखाई दे। दूसरा सदा हर निमित्त सेवाधारियों को पहले स्वयं को यह दो सर्टीफिकेट देने हैं। एक ‘एकता’ दूसरा ‘सन्तुष्टता’। संस्कार भिन्न-भिन्न होते ही हैं और होंगे भी लेकिन संस्कारों को टकराना या किनारा करके स्वयं को सेफ रखना – यह अपने ऊपर है। कुछ भी हो जाता है तो अगर कोई का संस्कार ऐसा है तो दूसरा ताली नहीं बजावे। चाहे वह बदलते हैं या नहीं बदलते हैं, लेकिन आप तो बदल सकते हो ना! अगर हरेक अपने को चेन्ज करे, समाने की शक्ति धारण करे तो दूसरे का संस्कार भी अवश्य शीतल हो जायेगा। तो सदा एक दो में स्नेह की भावना से, श्रेष्ठता की भावना से सम्पर्क में आओ, क्योंकि निमित्त सेवाधारी – बाप के सूरत का दर्पण हैं। तो जो आपकी प्रैक्टिकल जीवन है वही बाप के सूरत का दर्पण हो जाता है इसलिए सदा ऐसे जीवन रूपी दर्पण हो – जिसमें बाप जो है जैसा है वैसा दिखाई दे। बाकी मेहनत बहुत अच्छी करते हो, हिम्मत भी अच्छी है। सेवा की वृद्धि उमंग भी बहुत अच्छा है इसलिए विस्तार को प्राप्त कर रहे हो। सेवा तो अच्छी है, अभी सिर्फ बाप को प्रत्यक्ष करने के लिए प्रत्यक्ष जीवन का प्रमाण सदा दिखाओ। जो सभी एक ही आवाज से बोलें कि यह ज्ञान की धारणाओं में तो एक हैं लेकिन संस्कार मिलाने में भी नम्बरवन हैं। ऐसे भी नहीं कि इण्डिया की टीचर अलग हैं, फॉरेन की टीचर अलग हैं। सभी एक हैं। यह तो सिर्फ सेवा के निमित्त बने हुए हैं, स्थापना में सहयोगी बने हैं और अभी भी सहयोग दे रहे हैं, इसलिए स्वत: ही सबमें विशेष पार्ट बजाना पड़ता है। वैसे बापदादा व निमित्त आत्माओं के पास विदेशी व देशी में कोई अन्तर नहीं है। जहाँ जिसकी सेवा की विशेषता है, फिर चाहे कोई भी हो, वहाँ उसकी विशेषता से लाभ लेना होता है। बाकी एक दो को रिगार्ड देना यह ब्राह्मण कुल की मर्यादा है, स्नेह लेना और रिगार्ड देना। विशेषता को महत्व दिया जाता है ना कि व्यक्ति को। अच्छा।

वरदान:- हर सेकण्ड और संकल्प को अमूल्य रीति से व्यतीत करने वाले अमूल्य रत्न भव
संगमयुग के एक सेकण्ड की भी बहुत बड़ी वैल्यु है। जैसे एक का लाख गुणा बनता है वैसे यदि एक सेकण्ड भी व्यर्थ जाता है तो लाख गुणा व्यर्थ जाता है – इसलिए इतना अटेन्शन रखो तो अलबेलापन समाप्त हो जायेगा। अभी तो कोई हिसाब लेने वाला नहीं है लेकिन थोड़े समय के बाद पश्चाताप होगा क्योंकि इस समय की बहुत वैल्यु है। जो अपने हर सेकण्ड, हर संकल्प को अमूल्य रीति से व्यतीत करते हैं वही अमूल्य रत्न बनते हैं।
स्लोगन:- जो सदा योगयुक्त हैं वो सहयोग का अनुभव करते विजयी बन जाते हैं।

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 December 2019

27/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now at the most auspicious confluence age. Whilst remaining here you have to remember the new world and make your souls pure.
Question: What understanding that the Father has given you has opened the locks on your intellects?
Answer: The Father has given you such understanding of this eternal drama that the Godrej locks that had locked your intellects have become unlocked. Your intellects have been changed from stone and made divine. The Father has given you the understanding that each of you actors in this drama has your own eternal part to play. To whatever extent each of you studied in the previous cycle, you will do so now; you will make effort to claim your inheritance.

Om shanti. The spiritual Father sits here and teaches you spiritual children. From the moment He becomes our Father, He also becomes our Teacher and He also gives us teachings in the form of the Satguru. You children know that, since He is the Father, the Teacher and the Satguru, He wouldn’t be a small child. He is the highest and greatest of all. The Father knows that all of you are His children. According to the dramaplan, you called out to Him to come and take you to the pure world, but you did not understand anything. You now understand that the golden age is called the pure world and that the iron age is called the impure world. You also say: Come and liberate us from Ravan’s jail! Liberate us from all our sorrows and take us back to our land of peace and our land of happiness. Both names are very good: liberation and liberation-in-life or the land of peace and the land of happiness! The intellect of no one but you children knows where the land of peace is or where the land of happiness is; they are totally senseless. Your aim and objective is to become sensible. Those who are senseless have the aim and objective of becoming as sensible as they (Lakshmi and Narayan) are. You have to teach everyone what the aim and objective here is. It is to become deities from human beings. This is the world of human beings and that is the world of deities. The golden age is the world of deities, and so the iron age would surely be the world of human beings. Since we now have to become deities from human beings, we must surely be at the most elevated confluence age. Those are deities and these are human beings. Deities are sensible. The Father made them sensible. He is the Master of the world. Even though He never becomes the Master of that world, there is this praise. The unlimited Father is the One who gives unlimited happiness. There is unlimited happiness in the new world and there is unlimited sorrow in the old world. The picture of those deities is in front of you. There is praise of them. Nowadays, even the five elements are worshipped. The Father explains that you are now at the most elevated confluence age. Each of you also understands, numberwise, according to your efforts, that you have one foot in heaven and the other foot in hell. Although you are living here, your intellect is in the new world. Therefore, you have to remember the One who sends you to the new world. Only by having remembrance of the Father will you become pure. Shiva Baba sits here and explains this. They certainly celebrate the birth of Shiva, but they don’t know when He came or what He did when He came. They celebrate the night of Shiva and they also celebrate the birth of Krishna. They don’t use the same words for Shiv Baba as they do for Krishna. Although they say, “Shiv Ratri”, they don’t understand the meaning of that. The meaning has been explained to you children. There is unlimited sorrow at the end of the iron age and there is unlimited happiness in the golden age. You children have now received this knowledge and you know the beginning, the middle and the end of the cycle. Those who studied this a cycle ago will study now. Whatever effort they made then, they will start to do the same again and claim a status accordingly. The whole cycle is in your intellects. You are the ones who receive the highest status and who then come down accordingly. The Father has explained that the soul of every human being, everyone in the rosary, comes down, numberwise. Each actor receives his own part to play – whatever part each one plays at each moment. The Father sits here and explains the drama which is eternally created. You now have to explain to your brothers what the Father explains to you. It is in your intellects that the Father comes and explains to us every 5000 years, and that we then have to explain this to our brothers. In terms of souls, you are all brothers. The Father says: You must now consider yourselves to be bodiless souls. Souls have to remember their Father in order to become pure. When souls become pure they receive pure bodies. When a soul is impure, his jewellery (body) is also impure. Everyone is numberwise. The features and activity of one can not be the same as another’s. Each one plays his own numberwisepart. There cannot be the slightest change. In a drama, you would see the same scene tomorrow that you saw yesterday; the same things will be repeated. This is the unlimited drama of yesterday and today. It was explained to you yesterday how you claimed a kingdom and how you then lost that kingdom. Today, you now understand this knowledge in order to claim a kingdom. Today, Bharat is the old hell, and tomorrow, it will be the new heaven. Your intellects know that you are now about to go to the new world. You are becoming elevated by following shrimat. Elevated ones would definitely live in the elevated world. Lakshmi and Narayan were elevated, and so they lived in elevated heaven. Those who are corrupt live in hell. You now understand the significance of this. Only when you understand this unlimited drama very clearly will it then sit in your intellects. They celebrate the night of Shiva, but they know nothing about it. Therefore, you children have to be refreshed and you then have to refresh others. You are now given this knowledge and you then receive salvation. The Father says: I do not enter heaven. My part is to change this world from impure to pure. There, you have limitless treasures whereas here, you are bankrupt. This is why you call out to the Father to come and give you the unlimited inheritance. You receive the unlimited inheritance every cycle and you then also become poverty stricken every cycle. When you use the pictures to explain, they will be able to understand. Lakshmi and Narayan who were the foremost deities became ordinary human beings whilst taking 84 births. You children have now received this knowledge. You know that the original eternal deity religion existed 5000 years ago. That deity world was also called Vaikunth and Paradise. You would not call Bharat by that name now. It is now the devil world. It is now the confluence of the end of the devil world and the beginning of the deity world. You children now understand these things; you cannot hear these things from the mouth of anyone else. The Father comes and uses the mouth of this one. People do not understand whose mouth He uses. Whom would the Father come riding in? You souls ride in your own bodies. Shiv Baba doesn’t have a chariot of His own. He definitely does need a mouth. Otherwise, how could He teach you Raj Yoga? He wouldn’t teach you through inspiration. Therefore, note down all these points in your hearts. All the knowledge that is sitting in God’s intellect should also sit in your intellects. Your intellects have to imbibe this knowledge. There is a saying: Your intellect is all right, is it not? The intellect is in the soul. It is souls that understand with their intellects. Who made your intellects into stone? You now understand what Ravan turned your intellect into. Yesterday, you did not know about this drama; there were Godrej locks on your intellects. The word “God” is in that. The intellects that are given to you by the Father change into stone intellects. Then the Father comes again and opens the locks. In the golden age, everyone has a divine intellect. The Father comes and benefits everyone. Everyone’s intellect opens, numberwise. Souls continue to come down here, one after another. No one can remain above. No one impure can be there. The Father purifies you and takes you back to the pure world. All the souls that reside there are pure. That is the incorporeal world. You children now understand everything, and so your home seems to be very close to you. You have a lot of love for your home. No one else has as much love for that home as you do. However, you are also numberwise. Those who love the Father also love the home. There are also the specially loved children. You understand that those who make good effort and become specially loved children will claim a high status. It doesn’t depend on whether you have an old body or a young one. Those who are clever in knowledge and yoga are seniors. There are many young children who are clever in knowledge and yoga, and so they teach the older ones. Otherwise, it is normally the rule for older ones to teach younger ones. Nowadays, there are also midgets. In fact, all souls are midgets. A soul is just a point; how could you weigh it? It is just a star. On hearing the word “star”, people look upwards. When you hear the word “star”, you look at yourself. You are the stars of the earth, and those are the stars of the sky. They are non-living and you are living. Those stars never change, whereas you stars take 84 births. You play such huge parts! Whilst playing your parts, your sparkle becomes dull. Your batteries become discharged. Then, when you souls have become completely dull, the Father comes and explains this knowledge to you in many different ways. The power that you souls had in you has been used up. You now have to fill yourselves with power from the Father. You are now recharging your batteries. Maya creates many obstacles in this. She tries to stop you from recharging your battery. You are living batteries; you know that you will become satopradhan by having yoga with the Father. You have now become tamopradhan. There is such a huge contrast between that limited study and this unlimited study! All souls go up, numberwise. Then they come down at their own time to play their own parts. Each one has received his own imperishable part to play. How many times would you have played your parts of 84 births? How many times would your batteries have been charged and then become discharged? Since you know that your batteries have become discharged, why do you take so long to recharge them? It is because Maya doesn’t allow you to recharge your batteries. Maya makes you forget to recharge your batteries. She discharges your batteries again and again. You try to remember the Father but are unable to do so. Maya will even discharge the batteries of those who have recharged their batteries and have come close to their satopradhan stage; she gets them to make mistakes and quickly discharges their batteries. This will continue to happen until the end. Then, at the end of the war, when everything is finished, each of you will claim a status according to how much your battery has been charged. All souls are children of the Father. The Father comes and inspires all of them to charge their batteries. This play that has been created is so wonderful! Whilst you try to have yoga with the Father, you move away from Him again and again, and so you lose so much. You are inspired to make effort, not to move away. Every cycle, whilst you are making effort, when the drama comes to an end, your parts also come to an end, numberwise, according to the efforts you make. The rosary of you souls continues to be made. You children know that there is a rosary of Rudraksh and also a rosary of Vishnu. His rosary would be placed in the first number. The Father creates the divine world. Just as there is a rosary of Rudra (all souls), there is also a rosary of Runda (Vishnu). A rosary of Brahmins cannot be made now because changes continue to take place. It will be finalized when the rosary of Rudra is created. There will be the rosary of Brahmins but that cannot be created yet. In fact, all are the children of Prajapita Brahma. There is a rosary of the children of Shiva Baba and also a rosary of Vishnu. You become Brahmins and so one rosary is needed for Shiva and one for Brahma. All of this knowledge remains in your intellects, numberwise. Everyone listens to this, but it goes out of the ears of some at that very moment; they simply do not hear. Some do not even study. They do not know that God has come to teach them. They do not study at all. You should study this study with so much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to recharge the battery, that is, the soul, by remaining on the pilgrimage of remembrance until you become satopradhan. You must not become careless through which your battery would become discharged.
  2. In order to become a specially loved child, you must love the home as well as the Father. You must become intoxicated in knowledge and yoga. You have to explain to your brothers whatever the Father explains to you.
Blessing: May you be an example, like Father Brahma, and experience closeness to perfection while busy in service.
Father Brahma was busy in service, but he would listen to news and be in solitude. He would understand the essence of one hour’s news in five minutes; he would make the children happy and then give the experience of his stage of introspection and being in solitude. Follow the Father in the same way. Father Brahma never said that he was too busy, for he was an example in front of the children. Similarly, according to the time, there is a need for this practice. When you have love for this in your heart, you will find the time and become an example for many others.
Slogan: To experience karma and yoga in every deed is karma yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2019

27-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम अभी पुरूषोत्तम संगमयुग पर हो, तुम्हें यहाँ रहते नई दुनिया को याद करना है और आत्मा को पावन बनाना है”
प्रश्नः- बाप ने तुम्हें ऐसी कौन-सी समझ दी है जिससे बुद्धि का ताला खुल गया?
उत्तर:- बाप ने इस बेहद अनादि ड्रामा की ऐसी समझ दी है, जिससे बुद्धि पर जो गॉडरेज का ताला लगा था वह खुल गया। पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बन गये। बाप ने समझ दी है कि इस ड्रामा में हर एक एक्टर का अपना-अपना अनादि पार्ट है, जिसने कल्प पहले जितना पढ़ा है, वह अभी भी पढ़ेंगे। पुरूषार्थ कर अपना वर्सा लेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ सिखलाते हैं। जब से बाप बना है तब से ही टीचर भी है, तब से ही फिर सतगुरू के रूप में शिक्षा दे रहे हैं। यह तो बच्चे समझते ही हैं जबकि वह बाप, टीचर, गुरू है तो छोटा बच्चा तो नहीं है ना। ऊंच ते ऊंच, बड़े ते बड़ा है। बाप जानते हैं यह सब मेरे बच्चे हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार पुकारा भी है कि आकरके हमको पावन दुनिया में ले चलो। परन्तु समझते कुछ नहीं हैं। अभी तुम समझते हो पावन दुनिया सतयुग को, पतित दुनिया कलियुग को कहा जाता है। कहते भी हैं आकरके हमको रावण की जेल से लिबरेट कर दु:खों से छुड़ाकर अपने शान्तिधाम-सुखधाम में ले चलो। नाम दोनों अच्छे हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति वा शान्तिधाम-सुखधाम। सिवाए तुम बच्चों के और कोई की बुद्धि में नहीं है कि शान्तिधाम कहाँ, सुखधाम कहाँ होता है? बिल्कुल ही बेसमझ हैं। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही समझदार बनने की है। बेसमझों के लिए एम ऑब्जेक्ट होती है कि ऐसा समझदार बनना है। सभी को सिखलाना है-यह है एम आब्जेक्ट, मनुष्य से देवता बनना। यह है ही मनुष्यों की सृष्टि, वह है देवताओं की सृष्टि। सतयुग में है देवताओं की सृष्टि, तो जरूर मनुष्यों की सृष्टि कलियुग में होगी। अब मनुष्य से देवता बनना है तो जरूर पुरूषोत्तम संगमयुग भी होगा। वह हैं देवतायें, यह हैं मनुष्य। देवतायें हैं समझदार। बाप ने ही ऐसा समझदार बनाया है। बाप जो विश्व का मालिक है, भल मालिक बनता नहीं है परन्तु गाया तो जाता है ना। बेहद का बाप, बेहद का सुख देने वाला है। बेहद का सुख होता ही है नई दुनिया में और बेहद का दु:ख होता है पुरानी दुनिया में। देवताओं के चित्र भी तुम्हारे सामने हैं। उन्हों का गायन भी है। आजकल तो 5 भूतों को भी पूजते रहते हैं।

अभी बाप तुमको समझाते हैं तुम हो पुरूषोत्तम संगमयुग पर। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हैं-हमारी एक टांग स्वर्ग में, एक टांग नर्क में है। रहते तो यहाँ हैं परन्तु बुद्धि नई दुनिया में है और जो नई दुनिया में ले जाते हैं उनको याद करना है। बाप की याद से ही तुम पवित्र बनते हो। यह शिवबाबा बैठ समझाते हैं। शिवजयन्ती मनाते तो जरूर हैं, परन्तु शिवबाबा कब आया, क्या आकर किया, यह कुछ भी पता नहीं है। शिवरात्रि मनाते हैं और कृष्ण की जयन्ती मनाते हैं, वही अक्षर जो कृष्ण के लिए कहते वह शिवबाबा के लिए तो नहीं कहेंगे इसलिए उनकी फिर शिवरात्रि कहते हैं। अर्थ कुछ नहीं समझते। तुम बच्चों को तो अर्थ समझाया जाता है। अथाह दु:ख हैं कलियुग के अन्त में, फिर अथाह सुख होते हैं सतयुग में। यह तुम बच्चों को अभी ज्ञान मिला है। तुम आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। जिन्होंने कल्प पहले पढ़ा है वही अब पढ़ेंगे, जिसने जो पुरूषार्थ किया होगा वही करने लगेंगे और ऐसा ही पद भी पायेंगे। तुम्हारी बुद्धि में पूरा चक्र है। तुम ही ऊंच ते ऊंच पद पाते हो फिर तुम उतरते भी ऐसे हो। बाप ने समझाया है यह जो भी मनुष्यों की आत्मायें हैं, माला है ना, सब नम्बरवार आती हैं। हर एक एक्टर को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है-किस समय किसको क्या पार्ट बजाना है। यह अनादि बना-बनाया ड्रामा है जो बाप बैठ समझाते हैं। अब जो तुमको बाप समझाते हैं वह अपने भाइयों को समझाना है। तुम्हारी बुद्धि में है कि हर 5 हज़ार वर्ष बाद बाप आकर हमको समझाते हैं, हम फिर भाइयों को समझाते हैं। भाई-भाई आत्मा के सम्बन्ध में हैं। बाप कहते हैं इस समय तुम अपने को अशरीरी आत्मा समझो। आत्मा को ही अपने बाप को याद करना है – पावन बनने लिए। आत्मा पवित्र बनती है तो फिर शरीर भी पवित्र मिलता है। आत्मा अपवित्र तो जेवर भी अपवित्र। नम्बरवार तो होते ही हैं। फीचर्स, एक्टिविटी एक न मिले दूसरे से। नम्बरवार सब अपना-अपना पार्ट बजाते हैं, फ़र्क नहीं पड़ सकता। नाटक में वही सीन देखेंगे जो कल देखी होगी। वही रिपीट होगी ना। यह फिर बेहद का और कल का ड्रामा है। कल तुमको समझाया था। तुमने राजाई ली फिर राजाई गँवाई। आज फिर समझ रहे हो राजाई पाने लिए। आज भारत पुराना नर्क है, कल नया स्वर्ग होगा। तुम्हारी बुद्धि में है-अभी हम नई दुनिया में जा रहे हैं। श्रीमत पर श्रेष्ठ बन रहे हैं। श्रेष्ठ जरूर श्रेष्ठ सृष्टि पर रहेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण श्रेष्ठ हैं तो श्रेष्ठ स्वर्ग में रहते हैं। जो भ्रष्ट हैं वो नर्क में रहते हैं। यह राज़ तुम अभी समझते हो। इस बेहद के ड्रामा को जब कोई अच्छी रीति समझे, तब बुद्धि में बैठे। शिव रात्रि भी मनाते हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं हैं। तो अब तुम बच्चों को रिफ्रेश करना होता है। तुम फिर औरों को भी रिफ्रेश करते हो। अभी तुमको ज्ञान मिल रहा है फिर सद्गति को पा लेंगे। बाप कहते हैं मैं स्वर्ग में नहीं आता हूँ, मेरा पार्ट ही है पतित दुनिया को बदल पावन दुनिया बनाना। वहाँ तो तुम्हारे पास कारून का खजाना होता है। यहाँ तो कंगाल हैं इसलिए बाप को बुलाते हैं आकर बेहद का वर्सा दो। कल्प-कल्प बेहद का वर्सा मिलता है फिर कंगाल भी हो जाते हैं। चित्रों पर समझाओ तब समझ सकें। पहले नम्बर में लक्ष्मी-नारायण फिर 84 जन्म लेते मनुष्य बन गये। यह ज्ञान अभी तुम बच्चों को मिला है। तुम जानते हो आज से 5 हज़ार वर्ष पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, जिसको बैकुण्ठ, पैराडाइज़, डीटी वर्ल्ड भी कहते हैं। अभी तो नहीं कहेंगे। अभी तो डेविल वर्ल्ड है। डेविल वर्ल्ड की इन्ड, डीटी वर्ल्ड की आदि का अब है संगम। यह बातें अभी तुम समझते हो, और कोई के मुख से सुन न सको। बाप ही आकर इनका मुख लेते हैं। मुख किसका लेंगे, समझते नहीं हैं। बाप की सवारी किस पर होगी? जैसे तुम्हारी आत्मा की इस शरीर पर सवारी है ना। शिवबाबा को अपनी सवारी तो है नहीं, तो उनको मुख जरूर चाहिए। नहीं तो राजयोग कैसे सिखाये? प्रेरणा से तो नहीं सीखेंगे। तो यह सब बातें दिल में नोट करनी है। परमात्मा की भी बुद्धि में सारी नॉलेज है ना। तुम्हारी भी बुद्धि में यह बैठना चाहिए। यह नॉलेज बुद्धि से धारण करनी है। कहा भी जाता है तुम्हारी बुद्धि ठीक है ना? बुद्धि आत्मा में रहती है। आत्मा ही बुद्धि से समझ रही है। तुम्हारी पत्थरबुद्धि किसने बनाई? अभी समझते हो रावण ने हमारी बुद्धि क्या बना दी है! कल तुम ड्रामा को नहीं जानते थे, बुद्धि को एकदम गॉडरेज का ताला लगा हुआ था। ‘गॉड’ अक्षर तो आता है ना। बाप जो बुद्धि देते हैं वह बदलकर पत्थरबुद्धि हो जाती है। फिर बाप आकर ताला खोलते हैं। सतयुग में हैं ही पारसबुद्धि। बाप आकर सबका कल्याण करते हैं। नम्बरवार सबकी बुद्धि खुलती है। फिर एक-दो के पीछे आते रहते हैं। ऊपर में तो कोई रह न सके। पतित वहाँ रह न सकें। बाप पावन बनाकर पावन दुनिया में ले जाते हैं। वहाँ सब पावन आत्मायें रहती हैं। वह है निराकारी सृष्टि।

तुम बच्चों को अभी सब मालूम पड़ा है इसलिए अपना घर भी जैसे बहुत नज़दीक दिखाई पड़ता है। तुम्हारा घर से बहुत प्यार है। तुम्हारे जैसा प्यार तो कोई का है नहीं। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं, जिनका बाप के साथ लॅव है, उनका घर के साथ भी लॅव है। मुरब्बी बच्चे होते हैं ना। तुम समझते हो यहाँ जो अच्छी रीति पुरूषार्थ कर मुरब्बी बच्चा बनेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। छोटे अथवा बड़े शरीर के ऊपर नहीं हैं। ज्ञान और योग में जो मस्त हैं, वह बड़े हैं। कई छोटे-छोटे बच्चे भी ज्ञान-योग में तीखे हैं तो बड़ों को पढ़ाते हैं। नहीं तो कायदा है बड़े छोटों को पढ़ाते हैं। आजकल तो मिडगेड भी हो जाते हैं। यूँ तो सब आत्मायें मिडगेड हैं। आत्मा बिन्दी है, उनका क्या वज़न करें। सितारा है। मनुष्य लोग सितारा नाम सुन ऊपर में देखेंगे। तुम सितारा नाम सुन अपने को देखते हो। धरती के सितारे तुम हो। वह हैं आसमान के जो जड़ हैं, तुम चैतन्य हो। उनमें तो फेर-बदल कुछ नहीं होता, तुम तो 84 जन्म लेते हो, कितना बड़ा पार्ट बजाते हो। पार्ट बजाते-बजाते चमक डल हो जाती है, बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। फिर बाप आकर भिन्न-भिन्न प्रकार से समझाते हैं क्योंकि तुम्हारी आत्मा उझाई हुई है। ताकत जो भरी थी वह खलास हो गई है। अब फिर बाप द्वारा ताकत भरते हो। तुम अपनी बैटरी चार्ज कर रहे हो। इसमें माया भी बहुत विघ्न डालती है बैटरी चार्ज करने नहीं देती। तुम चैतन्य बैटरियाँ हो। जानते हो बाप के साथ योग लगाने से हम सतोप्रधान बनेंगे। अभी तमोप्रधान बने हैं। उस हद की पढ़ाई और इस बेहद की पढ़ाई में बहुत फर्क है। कैसे नम्बरवार सब आत्मायें ऊपर जाती हैं फिर अपने समय पर पार्ट बजाने आना है। सबको अपना अविनाशी पार्ट मिला हुआ है। तुमने यह 84 का पार्ट कितनी बार बजाया होगा! तुम्हारी बैटरी कितनी बार चार्ज और डिस्चार्ज हुई है! जब जानते हो हमारी बैटरी डिस्चार्ज है तो फिर चार्ज करने में देरी क्यों करनी चाहिए? परन्तु माया बैटरी चार्ज करने नहीं देती। माया बैटरी चार्ज करना तुमको भुला देती है। घड़ी-घड़ी बैटरी डिस्चार्ज करा देती है। कोशिश करते हो बाप को याद करने की परन्तु कर नहीं सकते हो। तुम्हारे में जो बैटरी चार्ज कर सतोप्रधान तक नज़दीक आते हैं, उनसे भी कभी-कभी माया ग़फलत कराए बैटरी डिस्चार्ज कर देती है। यह पिछाड़ी तक होता रहेगा। फिर जब लड़ाई का अन्त होता है तो सब खत्म हो जाते हैं फिर जिसकी जितनी बैटरी चार्ज हुई होगी उस अनुसार पद पायेंगे। सभी आत्मायें बाप के बच्चे हैं, बाप ही आकर सबकी बैटरी चार्ज कराते हैं। खेल कैसा वन्डरफुल बना हुआ है। बाप के साथ योग लगाने से घड़ी-घड़ी हट जाते हैं तो कितना नुकसान होता है। न हटें उसके लिए पुरूषार्थ कराया जाता है। पुरूषार्थ करते-करते जब समाप्ति होती है तो फिर नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तुम्हारा पार्ट पूरा होता है। जैसे कल्प-कल्प होता है। आत्माओं की माला बनती रहती है।

तुम बच्चे जानते हो रूद्राक्ष की माला है, विष्णु की भी माला है। पहले नम्बर में तो उनकी माला रखेंगे ना। बाप दैवी दुनिया रचते हैं ना। जैसे रूद्र माला है, वैसे रूण्ड माला है। ब्राह्मणों की माला अभी नहीं बन सकेगी, बदली-सदली होती रहेगी। फाइनल तब होंगे जब रूद्र माला बनेगी। यह ब्राह्मणों की भी माला है परन्तु इस समय नहीं बन सकती। वास्तव में प्रजापिता ब्रह्मा की सब सन्तान हैं। शिवबाबा के सन्तान की भी माला है, विष्णु की भी माला कहेंगे। तुम ब्राह्मण बनते हो तो ब्रह्मा की और शिव की भी माला चाहिए। यह सारा ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में नम्बरवार हैं। सुनते तो सभी हैं परन्तु कोई का उस समय ही कानों से निकल जाता है, सुनते ही नहीं। कोई तो पढ़ते ही नहीं, उनको पता ही नहीं-भगवान पढ़ाने आये हैं। पढ़ते ही नहीं हैं, यह पढ़ाई तो कितना खुशी से पढ़नी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद की यात्रा से आत्मा रूपी बैटरी को चार्ज कर सतोप्रधान तक पहुँचना है। ऐसी कोई ग़फलत नहीं करनी है, जो बैटरी डिस्चार्ज हो जाए।

2) मुरब्बी बच्चा बनने के लिए बाप के साथ-साथ घर से भी लव रखना है। ज्ञान और योग में मस्त बनना है। बाप जो समझाते हैं वह अपने भाइयों को भी समझाना है।

वरदान:- सेवा में रहते सम्पूर्णता के समीपता की अनुभूति करने वाले ब्रह्मा बाप समान एक्जैम्पुल भव
जैसे ब्रह्मा बाप सेवा में रहते, समाचार सुनते एकान्तवासी बन जाते थे। एक घण्टे के समाचार को 5 मिनट में सार समझ बच्चों को खुश करके, अपनी अन्तर्मुखी, एकान्तवासी स्थिति का अनुभव करा देते थे। ऐसे फालो फादर करो। ब्रह्मा बाप ने कभी नहीं कहा कि मैं बहुत बिजी हूँ लेकिन बच्चों के आगे एक्जैम्पुल बनें। ऐसे समय प्रमाण अभी इस अभ्यास की आवश्यकता है। दिल की लगन हो तो समय निकल आयेगा और अनेकों के लिए एक्जैम्पुल बन जायेंगे।
स्लोगन:- हर कर्म में – कर्म और योग का अनुभव होना ही कर्मयोग है।

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 December 2018 :- Click Here

27/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, I am once again teaching you Raja Yoga and making you into kings of kings. The whole cycle is merged in the words ‘once again’.
Question: The Father is powerful and Maya too is powerful. What is each powerful in?
Answer: The Father makes you pure from impure. The Father is powerful in making you pure and this is why He is called the Purifier and the Almighty Authority. Maya is powerful in making you impure. There are such bad omens while earning a true income that, instead of a profit, there is loss. Maya makes you crazy for the vices. This is why Baba says: Children, make effort to become soul conscious.
Song: We have to walk on the path where we may fall, so we have to be cautious!

Om shanti. Which path do you children have to walk on? Surely, there must be someone to show you the path. People follow the wrong path. That is why they are unhappy. They are so unhappy because they do not follow His directions. All have been following wrong directions since the kingdom of Ravan, the one who gives wrong directions, began. The Father explains: At this time, you follow the dictates of Ravan. This is why everyone has reached such a bad condition. All call themselves impure. Bapu Gandhiji too used to say: O Purifier, come! That means we are impure. However, none of them understand how they became impure. They want there to be the kingdom of Rama in Bharat, but who would make it that? The Father explained everything in the Gita, but they have put the wrong name for God in the Gita. The Father explains what you have done. If they were to put the Pope’s name in the Bible of Christ, there would be so much loss. This too is the drama. The Father explains the biggest mistake to you. This knowledge of the beginning, the middle and the end is in the Gita. The Father explains: I am once again making you into kings of kings. You don’t know how you have taken 84 births. I tell you that. This is not mentioned in any of the scriptures. There are innumerable scriptures. There are many different directions. The Gita means the Gita. The One who spoke the Gita gave that advice. He says: I have come once again to teach you Raja Yoga. The shadow of Maya has been cast over you. I have now come once again. In the Gita, too, it says: O God, come and speak the Gita once again. That means: Give us the knowledge of the Gita once again. It is mentioned in the Gita that the devilish world is destroyed and the deity world is once again established. The words ‘once again’ would definitely be used. Guru Nanak will once again come at his own time. They also show images. There will be the same Krishna with the peacock-feathered crown. All of these secrets are mentioned in the Gita but they have changed God’s name. We don’t say that we don’t believe in the Gita, but that the Father comes and explains to us about the wrong name that human beings have put in the Gita and that He puts it right. He also explains that each soul has his own fixed part. Not everyone can be the same. Just as a human being means a human being, similarly, a soul means a soul. However, each soul has his own part recorded in him. A very intelligent person is needed to explain these things. The Father knows who can explain, who are sensible in doing service, whose line (of the intellect) is clear and who remain soul conscious. Not everyone has become completely soul conscious. That will be the result at the end. When the days of an examination come close, you can tell who will passTeachers can understand and the children can also understand: This one is the cleverest of all. There, it is possible that cheating can take place; it cannot take place here. This is fixed in the drama. Only those who emerged in the previous cycle will emerge. Baba can tell from the speed of your service. In earning this true income, there are profit and loss and sometimes bad omens etc. While walking along, you break your leg. While you are having a pure marriage, Maya makes you go completely crazy. Maya too is very powerful. Baba is powerful in making you pure. This is why He is called the Almighty Authority and the Purifier. Then Maya is powerful in making you impure. Maya doesn’t exist in the golden age. That is the viceless world , whereas it is now the completely vicious world. There is so much force. While you are walking along, Maya catches hold of you by the nose and makes you go crazy. She is so powerful that she makes you divorce Baba. Although the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Almighty Authority, Maya too is no less. Her kingdom continues for half the cycle. No one knows this. Day and night are half and half; the day of Brahma and the night of Brahma. Nevertheless, they show the duration of the golden age to be hundreds of thousands of years and the iron age to be much longer. The Father now explains to you and so you are able to understand that this is absolutely right. The Father sits here and teaches you. Human beings of the iron age would not teach you the Raja Yoga of the Gita and make you into kings of kings. There is no one who has it in his intellect that he will study Raja Yoga and become a king of kings. There are many of those Gita Pathshalas, but no one can study Raja Yoga there and become a king of kings or become a queen. There is no aim or objective of attaining a kingdom there. Here, you say that you are studying with the unlimited Father to claim the sovereignty of future happiness. First of all, you have to explain about Alpha. Everything depends on the Gita. How can people know how the world cycle turns, where they have come from and where they have to go to? No one knows this. Which land have we come from and which land do we have to go to? There is that song, but they simply continue to sing it like parrots. The intellects that are in souls do not know who the One is whom they call out to, saying, “O Supreme Father, Supreme Soul!” They can neither see Him nor know Him. It is the duty of a soul to know his Father and see Him. You now understand that we are souls and that the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. The intellect says: The Father comes and teaches us. When they invite the soul of someone, they understand that the soul of such-and-such a person has come. So, you understand that you are souls and that He is your Father. You should definitely receive the inheritance from the Father. Why have we become unhappy? People say that it is the Father who gives happiness and sorrow. They continue to insult God. They are devilish children. They say what they said in the previous cycle. You have now become the practical children of God. Previously, you were devilish children. The Father now says: Constantly remember Me alone. It is very easy to explain these few words to anyone: You are the children of God. God created heaven which has now become hell. Then, the Father alone will create heaven once again. The Father is teaching us Raja Yoga and establishing heaven. Achcha, you don’t know Shiva. It is that Father who also creates Prajapita Brahma. Therefore, surely, the Father would teach you through Brahma. It is now the shudra clan. We will become deities and warriors from Brahmins. Why else would the variety-form image have been created? The picture is accurate, but they are unable to understand it. Who would make shudras into Brahmins? Definitely, Prajapita Brahma is needed. How was he adopted? You say, “This is my wife”. So, how did He make this one belong to Him? He adopted him. The Father says: You call Me the Mother and Father. I am the Father. Where can I bring my wife from? So, I enter this one and name him Brahma. A wife is adopted. Just as a physical father adopts a wife and creates a physical creation, so Baba entered this one, adopted him and created the mouth-born creation through him. You say: We are Brahmins. Definitely, this one’s name is Brahma. Whose child is Brahma? Shiv Baba’s. Who adopted him? The unlimited Father. The example is very good, but it is only those in whose intellects this has sat who will be able to explain. If it is not in someone’s intellect, he won’t know how to explain. There are physical fathers and the parlokik Father. They each adop t a wife and say: “She is mine.” That One enters this one and adopts him. He Himself says: I, the incorporeal One, have to take the support of this one. Therefore, I also change his name. How many names can He give at the same time? You should keep the list of names with you. The list of names should also be shown at the exhibitions. Look how Baba gave all the names at the same time. Baba made us belong to Him and so He had our names changed. He is called Bragu Rishi (astrologer who knew each one’s horoscope). Only God has your horoscope. They are wonderfulnames. Not all of them are here now. Some were amazed and then ran away. Today they are here and tomorrow they are not here. The number one enemy is lust. This vice of lust causes you a lot of distress. You have to conquer it. While living at home with your families, you have to live together and conquer it. This is your promise. You have to check your attitude and not perform sinful actions through your physical organs. Storms come to everyone. You mustn’t be afraid of them. Many children ask Baba: Should I do this business or not? Baba writes back to them: Have I come here to look after your business etc? I am the Teacher and have come to teach you. Why do you ask Me about your business? I teach you Raja Yoga. The sacrificial fire of Rudra has been remembered. It isn’t a sacrificial fire of Krishna that is remembered. The Father says: Lakshmi and Narayan don’t have knowledge of the world cycle. If they were to know at that time that they had to become fourteen degrees from sixteen celestial degrees, their intoxication of the kingdom would fly away. There is salvation there anyway. The Bestower of Salvation is only One. He alone comes and tells you the method. No one else can tell you this. First of all, take up the topic: Who said that lust is the greatest enemy? It is said: The vicious world and the viceless world. It is only in Bharat that they continue to burn effigies of Ravan. They would not burn them in the golden age. If, as they say, it is eternal and that he also existed in the golden age, then there would have been sorrow everywhere. In that case, how could that be called heaven? These matters have to be explained. Each one’s speed is individual. You can tell who has a good speed. No one has yet become perfect, but there are the stages of sato, rajo and tamo. The intellect of each one is different. Those who don’t follow shrimat have tamopradhan intellects. If you don’t insure yourself, how would you receive your future 21 births? You have to die, so why not insure yourselves? Everything belongs to Him. Therefore, He will also sustain you. Some gave everything, but they don’t do service but continue to eat from what they gave, so what will be accumulated? Nothing at all! Proof of service is required. It is seen who come here as guides. New BKs who run a centre between them are also given many thanks. This knowledge is very easy. Go and explain to those who are in the stage of retirement when the stage of retirement really is. Only the Father would become the Guide and take everyone back. You know that the Father Himself is the Death of all Deaths. We want to go back together with Baba in happiness. First of all, take up the main topic: Who is the God of the Gita who created creation? Who taught Raja Yoga to Lakshmi and Narayan? Their kingdom is being established. No one else comes to establish the kingdom. The Father Himself comes to establish the kingdom. He makes all the impure ones pure. This is the vicious worldand that is the viceless world. Status is numberwise in both worlds. These things can only sit in the intellects of those who follow shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain soul conscious so that the line of your intellect always stays clear. While earning your true income, be cautious that Maya doesn’t make you incur a loss in any way.
  2. Don’t perform any sinful deeds through your physical organs. After insuring yourselves, you also definitely have to do service.
Blessing: May you become an embodiment of happiness and “cry-proof” by drying your tank of tears in the heat of yoga.
Some children say that So-and-so is causing them sorrow and that this is why they cry. However, if that one is causing it, why do you take it? That one’s duty is to cause it, but you don’t have to take it. Children of God can never cry. Crying has stopped – both the crying through the eyes and the crying in the mind. Where there is happiness, there will not be any crying. Tears of happiness or of love is not said to be crying. So, dry the tank of tears in the heat of yoga and consider obstacles to be games and you will become an embodiment of happiness.
Slogan: When you have the practice of playing your part as a detached observer, you will then remain beyond tension and automatically pay attention.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2018

To Read Murli 26 December 2018 :- Click Here
27-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मैं तुम्हें फिर से राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ, इस ‘फिर से’ शब्द में ही सारा चक्र समाया हुआ है”
प्रश्नः- बाप भी प्रबल है तो माया भी? दोनों की प्रबलता क्या है?
उत्तर:- बाप तुम्हें पतित से पावन बनाते, पावन बनाने में बाप प्रबल है इसलिए बाप को पतित-पावन सर्वशक्तिमान कहा जाता है। माया फिर पतित बनाने में प्रबल है। सच्ची कमाई में गृहचारी ऐसी बैठती है जो फायदे के बदले घाटा हो जाता है, विकारों के पीछे माया तवाई बना देती है इसलिए बाबा कहते – बच्चे, देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करो।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….. 

ओम् शान्ति। तुम बच्चों को किन राहों पर चलना है? जरूर राह बताने वाला होगा। मनुष्य रांग रास्ते पर चलते हैं तब तो दु:खी होते हैं। अभी कितने दु:खी हैं क्योंकि उनकी मत पर नहीं चलते। सब उल्टी मत पर चलते आये हैं, जब से उल्टी मत देने वाले रावण का राज्य शुरू हुआ है। बाप समझाते हैं तुम इस समय रावण की मत पर हो, तब हरेक का ऐसा बुरा हाल हुआ है। सब अपने को पतित कहते भी हैं। गांधी बापू जी भी कहते थे – पतित-पावन आओ, गोया हम पतित हैं। परन्तु कोई भी समझते नहीं कि हम पतित कैसे बने हैं? चाहते हैं भारत में राम राज्य हो परन्तु कौन बनायेगा? गीता में बाप ने सब बातें समझाई हैं, परन्तु गीता के भगवान् का ही नाम उल्टा लगा दिया है। बाप समझाते हैं तुमने क्या कर दिया है। क्राइस्ट के बाइबिल में पोप का नाम डाल दें तो कितना नुकसान हो जाए। यह भी ड्रामा है। बाप बड़े से बड़ी भूल समझाते हैं। यह आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान गीता में है। बाप समझाते हैं मैं तुमको फिर से राजाओं का राजा बनाता हूँ। तुमने 84 जन्म कैसे लिये – यह तुम नहीं जानते हो, हम बताते हैं। यह कोई भी शास्त्र में नहीं है। शास्त्र तो अनेक हैं। भिन्न-भिन्न मतें हैं। गीता माना गीता। जिसने गीता गाई है उसने ही राय दी है। कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखाने फिर से आया हूँ। तुम पर माया का परछाया पड़ गया है। अभी फिर से मैं आया हूँ। गीता में भी कहते हैं हे भगवान् फिर से गीता सुनाने आओ अर्थात् फिर से गीता की नॉलेज दो। गीता में ही यह बात है कि आसुरी सृष्टि का विनाश और दैवी सृष्टि की स्थापना फिर से होती है। फिर जरूर कहेंगे। गुरूनानक फिर से आयेगा अपने समय पर, चित्र भी दिखाते हैं। कृष्ण भी फिर से वही मोर मुकुट वाला होगा। तो यह सब राज़ गीता में हैं। परन्तु भगवान् को बदल दिया है। हम ऐसे नहीं कहते कि गीता को नहीं मानते परन्तु उसमें जो यह उल्टा नाम मनुष्यों ने डाल दिया है, उसको बाप आ करके सीधा करके समझाते हैं। यह भी समझाते हैं हर एक आत्मा में अपना-अपना पार्ट नूंधा हुआ है। सब एक समान नहीं हो सकते। जैसे मनुष्य माना मनुष्य, वैसे आत्मा माना आत्मा। परन्तु हर एक आत्मा में अपना पार्ट भरा हुआ है। यह बातें समझाने वाला बड़ा बुद्धिवान चाहिए। बाप जानते हैं कौन समझा सकते हैं, कौन सर्विस करने में समझदार हैं, किसकी लाइन क्लीयर है। देही-अभिमानी रहते हैं। सब तो परिपूर्ण, देही-अभिमानी नहीं बने हैं। यह तो अन्त में रिजल्ट होगी। इम्तहान के दिन जब नज़दीक होते हैं तो मालूम पड़ जाता है कौन-कौन पास होंगे। टीचर्स भी समझ सकते हैं और बच्चे भी समझते हैं कि यह सबसे तीखा है। वहाँ तो ठगी आदि भी हो सकती है। यहाँ तो यह बात हो न सके। यह तो ड्रामा में नूंध है। कल्प पहले वाले ही निकलेंगे। हमें पता चलता है सर्विस की रफ्तार से। इस सच्ची कमाई में घाटा और लाभ, गृहचारी आदि आती है। चलते-चलते टांग टूट पड़ती है। गन्धर्वी विवाह करने बाद फिर माया एकदम तवाई बना देती है। माया भी बड़ी प्रबल है। बाबा प्रबल है पावन बनाने में, इसलिए उनको सर्वशक्तिमान पतित-पावन कहा जाता है और फिर माया प्रबल है पतित बनाने में। सतयुग में तो माया होती नहीं। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड, अभी है एकदम विशश वर्ल्ड। कितनी जबरदस्त प्रबलता है। चलते-चलते माया एकदम नाक से पकड़ तवाई बना देती है, फारकती दिला देती है, इतनी प्रबल है। भल सर्वशक्तिमान परमपिता परमात्मा को कहते हैं परन्तु माया भी कम नहीं है। आधाकल्प उनका राज्य चलता है। यह कोई थोड़ेही जानते हैं। दिन और रात आधा-आधा होता है, ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। फिर भी सतयुग को लाखों वर्ष, कलियुग को कितने वर्ष दे देते हैं। अभी बाप समझाते हैं तो समझ में आता है। यह तो बिल्कुल राइट है। बाप बैठ पढ़ाते हैं। कलियुग में मनुष्य थोड़ेही गीता का राजयोग सिखाए राजाओं का राजा बनायेंगे। ऐसे तो कोई है नहीं, जिसकी बुद्धि में हो कि हम राजयोग सीख राजाओं का राजा बनेंगे। वो गीता पाठशालायें तो अनेक हैं परन्तु कोई राजयोग सीख राजाओं का राजा वा रानी बन नहीं सकते। कोई भी एम ऑबजेक्ट राजाई पाने का नहीं है। यहाँ तो कहते हो हम बेहद के बाप से भविष्य सुख की राजाई पाने के लिए पढ़ते हैं। पहले-पहले तो अल्फ पर समझाना है। गीता पर ही सारा मदार है। मनुष्यों को कैसे पता पड़े सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, हम कहाँ से आये हैं, फिर कहाँ जाना है। कोई को पता नहीं है। कौन देश से आया, कौन देश है जाना। गीत भी है ना, सिर्फ तोते मुआफ़िक गाते रहते हैं। बुद्धि जो आत्मा में है वह नहीं जानती कि हम जिसको हे परमपिता परमात्मा कहते हैं वह कौन है। उनको न देख सकते हैं, न जान सकते हैं। आत्मा का तो फ़र्ज है ना – बाप को जानना, देखना। अभी तुम समझ गये हो, हम आत्मा हैं परमपिता परमात्मा बाप हमको पढ़ाते हैं। बुद्धि कहती है बाप आकर पढ़ाते हैं। जैसे किसकी आत्मा को बुलाते हैं तो समझते हैं ना उनकी आत्मा आई है। तो तुम समझते हो हम आत्मा हैं, हमारा वह बाप है। बाप से जरूर वर्सा मिलना चाहिए। हम दु:खी क्यों हुए हैं, मनुष्य तो कह देते बाप ही सुख दु:ख देने वाला है। भगवान् को गाली देते रहते हैं। वह हैं आसुरी सन्तान। जैसे कल्प पहले कहा है वैसे कहते हैं। तुम अभी प्रैक्टिकल में ईश्वरीय सन्तान बने हो। आगे तुम आसुरी औलाद थे। अब बाप कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो। किसको भी यह दो अक्षर समझाना बहुत सहज है। तुम भगवान् के बच्चे हो। भगवान् ने स्वर्ग रचा, अब नर्क बना है फिर स्वर्ग बाप ही रचेंगे। बाप हमको राजयोग सिखला रहे हैं, स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। अच्छा, शिव को नहीं जानते हो। प्रजापिता ब्रह्मा को भी रचने वाला वह बाप है। तो जरूर बाप ब्रह्मा द्वारा ही सिखायेंगे। अभी शूद्र वर्ण है। हम ब्राह्मण से देवता क्षत्रिय बनेंगे। नहीं तो विराट रूप क्यों बनाया है, चित्र ठीक है। परन्तु समझ नहीं सकते।

शूद्रों को ब्राह्मण कौन बनायेंगे? जरूर प्रजापिता ब्रह्मा चाहिए। उनको कैसे एडाप्ट किया। जैसे तुम कहते हो यह मेरी स्त्री, उनको ‘मेरी’ कैसे बनाया? एडाप्ट किया। बाप कहते हैं मुझे भी मात-पिता कहते हो, मैं बाप तो हूँ। मेरी कहाँ से लाऊं। तो इनमें प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखता हूँ। स्त्री एडाप्ट की जाती है, जैसे लौकिक बाप स्त्री को एडाप्ट कर कुख वंशावली रचते हैं, बाबा ने फिर इनमें प्रवेश कर इनको एडाप्ट कर इनके मुख द्वारा मुखवंशावली बनाई है। तुम कहते हो हम ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हैं। जरूर इनका ही नाम ब्रह्मा है। ब्रह्मा किसका बच्चा? शिवबाबा का। इनको किसने एडाप्ट किया? बेहद के बाप ने। दृष्टान्त बड़ा अच्छा है परन्तु जिसकी बुद्धि में बैठा होगा वह समझा सकेंगे। बुद्धि में नहीं होगा तो उनको समझाने आयेगा ही नहीं। लौकिक और पारलौकिक बाप तो है ना। वह भी स्त्री को एडाप्ट कर मेरी कहते हैं। यह फिर इनमें प्रवेश कर एडाप्ट करते हैं। खुद कहते हैं मुझ निराकार को इनका आधार लेना पड़ता है, तो नाम भी बदली करता हूँ। एक ही टाइम कितनों के नाम रखे। नाम की लिस्ट भी तुम्हारे पास होनी चाहिए। प्रदर्शनी में नाम की लिस्ट भी दिखानी चाहिए। बाबा ने कैसे एक ही समय नाम रखे। बाबा ने हमको अपना बनाया तो नाम बदलाया, उनको भृगु ऋषि कहते हैं। जन्म पत्री तो भगवान् के पास ही है। वन्डरफुल नाम हैं। अब सभी तो हैं नहीं। कोई तो आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। आज हैं, कल हैं नहीं। नम्बरवन दुश्मन है काम। यह काम विकार बहुत तंग करता है। उस पर जीत पानी है। गृहस्थ व्यवहार में इकट्ठे रहकर उन पर जीत पानी है – यह है प्रतिज्ञा। अपनी वृत्ति देखनी है, कर्मेन्द्रियों से विकर्म नहीं करना है। तूफान तो सबको आते हैं। इसमें डरना नहीं है।

बाबा से बहुत बच्चे पूछते हैं यह धंधा करें वा नहीं करें? बाबा लिखते हैं मैं कोई तुम्हारे धन्धे आदि को देखने आया हूँ क्या? मैं तो टीचर हूँ, पढ़ाने के लिए। धन्धे की बात हमसे क्यों पूछते हो? मैं तो राजयोग सिखाता हूँ। रुद्र यज्ञ भी गाया हुआ है, कृष्ण यज्ञ नहीं। बाप कहते हैं लक्ष्मी-नारायण में यह सृष्टि चक्र का ज्ञान ही नहीं। अगर यह मालूम हो कि 16 कला से फिर 14 कला बनना है तो उसी समय ही राजाई का नशा उड़ जाए। वहाँ तो है ही सद्गति। सद्गति दाता तो एक है। वही आकर युक्ति बताते हैं, दूसरा कोई बतला न सके। पहले-पहले यह बात उठाओ कि किसने कहा है – काम महाशत्रु है? यह भी गाते हैं विशश वर्ल्ड और वाइसलेस वर्ल्ड। भारत में ही रावण को जलाते रहते हैं। सतयुग में थोड़ेही जलायेंगे। अगर यह कहते हैं कि अनादि है, सतयुग में भी था फिर तो सब जगह दु:ख ही दु:ख होगा। फिर स्वर्ग कैसे कहेंगे? यह बातें समझानी है। हरेक की रफ्तार अपनी है। पता लग जाता है – कौन अच्छी रफ्तार वाला है? सम्पूर्ण तो कोई बने नहीं हैं। बाकी हाँ, सतो, रजो, तमो तो होते ही हैं। बुद्धि हर एक की अलग-अलग है। जो श्रीमत पर नहीं चलते हैं – वह हैं तमोप्रधान बुद्धि। अपने को इन्श्योर नहीं करेंगे तो भविष्य 21 जन्मों के लिए कैसे मिलेगा। मरना तो है ही। तो क्यों न इन्श्योर कर देना चाहिए। सब कुछ उनका है। तो परवरिश भी वह करेंगे। भल कोई सब कुछ देते हैं, परन्तु सर्विस नहीं करते, जो दिया वह खाते रहते हैं। तो बाकी जमा क्या होगा। कुछ भी नहीं। सर्विस का सबूत चाहिए। देखा जाता है – कौन पण्डे बन आते हैं? नये बी.के. भी आपस में सेन्टर चलाते हैं, उनको भी आफरीन दी जाती है। यह नॉलेज तो बड़ी सहज है। वानप्रस्थ अवस्था वालों को जाकर समझाओ – वानप्रस्थ अवस्था कब होती है? बाप ही गाइड बन सबको ले जायेंगे। तुम जानते हो बाप ही कालों का काल है। हम तो खुशी से बाबा के साथ इकट्ठे जाना चाहते हैं।

पहले-पहले तो मुख्य बात यह उठाओ – गीता का भगवान् कौन है, जिसने रचना रची? लक्ष्मी-नारायण को राजयोग किसने सिखाया? उनकी भी राजधानी स्थापन हो रही है। और कोई राजधानी स्थापन करने आते नहीं। बाप ही राजधानी स्थापन करने आते हैं। सब पतितों को पावन बनाते हैं। यह है विशश वर्ल्ड, वह है वाइसलेस वर्ल्ड। दोनों में नम्बरवार मर्तबे हैं। जो श्रीमत पर चलने वाले होंगे, उनकी बुद्धि में ही यह बातें बैठ सकती हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि की लाइन सदा क्लीयर रहे इसके लिए देही-अभिमानी रहना है। सच्ची कमाई में माया किसी प्रकार से घाटा न डाल दे – यह सम्भाल करनी है।

2) कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म नहीं करना है। इन्श्योर करने के बाद सर्विस भी जरूर करनी है।

वरदान:- योग की धूप में आंसुओं की टंकी को सुखाकर रोना प्रूफ बनने वाले सुख स्वरूप भव
कई बच्चे कहते हैं कि फलाना दु:ख देता है इसलिए रोना आता है। लेकिन वह देते हैं आप लेते क्यों हो? उनका काम है देना, आप लो ही नहीं। परमात्मा के बच्चे कभी रो नहीं सकते। रोना बन्द। न आंखों का रोना, न मन का रोना। जहाँ खुशी होगी वहाँ रोना नहीं होगा। खुशी वा प्यार के आंसू को रोना नहीं कहा जाता। तो योग की धूप में आंसुओं की टंकी को सुखा दो, विघ्नों को खेल समझो तो सुख स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- साक्षी रहकर पार्ट बजाने का अभ्यास हो तो टेन्शन से परे स्वत: अटेन्शन में रहेंगे।

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 December 2017 :- Click Here

27/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, tell everyone the secret of the three fathers in the form of a story. You cannot receive your inheritance until you recognise the unlimited Father and become pure.
Question: Baba is completely new. What new introduction of Himself has He given you?
Answer: Human beings have said that Baba is brighter than a thousand suns. However, Baba says: I am a point. Therefore, Baba is new. If you first had a vision of a point, no one would believe that. This is why everyone receives a vision according to their belief and devotion.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Incorporeal God speaks. If “God speaks” is simply said, they remember the name of Krishna, because nowadays everyone calls him God. Therefore, it is said: Incorporeal God Shiva speaks. It is said: God, the Father. To whom does incorporeal God speak? To the incorporeal children, the spirits. It doesn’t seem right to say “Spiritual God speaks” or “Ishwar speaks.” It seems right to say “Incorporeal God speaks.” He wouldn’t say this again and again. He is very incognito. A picture cannot be taken of Him. If you made a point and wrote, “God speaks”, no one would believe it. No one knows the accurate name, form, place or time of God. If they were to know the Father, they would also know the creation. However, it is fixed in the drama for them not to know this. It is only then that the Father can come again and give His introduction. The Father says: It is only when it is My part to purify the impure that I come and give My own introduction. I make the old world new. People who live in the old world worship the people who used to live in the new world. You children have to explain this. Since the rishis and munis all say that they don’t know the Creator or creation, how could you know? If you know the Father and creation, then give us that knowledge. They can never give that knowledge to anyone. They cannot give the inheritance. You children are receiving your inheritance from the Father. You know that the unlimited Father has come to give you the inheritance of the new world, that is, to give you happiness. Therefore, sorrow will definitely end. That is the land of happiness and this is the land of sorrow. This land of sorrow is now to be destroyed. The new world has now become old and it will then become new. The new world is called the golden age and the old world is called the iron age. There would surely be few human beings in the new world. In the golden age, there was just the one religion. At this time, there are innumerable religions and there is also sorrow. There is sorrow after happiness and happiness after sorrow. This play is predestined. No one knows who causes you sorrow. Ravan is called Maya. Wealth is not Maya. Vicious human beings know that the deities were viceless, but they have the intoxication of the vices. The deities have the intoxication of being viceless. There are no impure beings there. Only at the confluence age is the secret of purity explained to you children. You then have to explain this to others. The Father would not sit and explain to the whole world. It is you children who have to explain to others. However, many methods are needed to explain to them. Tell everyone that Bharat was heaven, the new world, and that it has now become old. Only the Father is the Creator and He Himself says: I establish the new world through Brahma. I adopt you children. Brahma’s name is Prajapita. Therefore, He would definitely have to adopt so many of you children, just as sannyasis adopt their followers. A husband adopts a wife, saying: You are mine. Here, you too say: Shiv Baba, I belong to You. Whilst sitting at home, many are touched in this way. What do they then say? Baba, although I have not seen You because I am in bondage and I cannot come to You, I still belong to You. You do definitely have to become pure. Impure ones cannot go into liberation or liberation-in-life. Impure ones call out: Come and purify us! You children should explain that Bharat was heaven. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven and so there must definitely have been their dynasty. There was the new kingdom in the new world, but that doesn’t exist now. There are all the other innumerable religions, but the deity religion doesn’t exist any more. For how long will this old world continue? Those people say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. There is also praise of the Great War. When there was a little conflict a while ago, they said that that was the time of the Mahabharat War. They have shown the war of the Yadavas and how they destroyed themselves with missiles. Sometimes, they write that there was a war between the Pandavas and the Kauravas and sometimes they write there was a war between the devils and the deities. Immediately after the devilish world, there is the deity world. These are impure and those are pure and so how could the pure deities fight? They exist in the golden age whereas these exist in the iron age. So, how could the two of them fight? Deities are non-violent and devils are violent. How could deities enter hell? You are now at the confluence age. The new world is being established. You are making effort for that. You should also explain the secrets of the two fathers in the form of a story. In the golden age, there is just one father. They don’t remember the unlimited Father because that is the land of happiness. In the copper age you have two fathers. Even while having their worldly fathers, they remember the Father from beyond this world. It is the soul that remembers his Father because it is the soul that experiences sorrow. There are sinful souls and charitable souls. It is the soul that listens. Sanskars are in the soul. Those who don’t have divine sanskars praise those who had divine sanskars. It is remembered: You were worthy of worship and you are worshippers. When you become worshippers, you sing: I am without virtue; I am virtueless. They have virtues; we have no virtues. Those who were worthy of worship then became worshippers. You were worthy-of-worship deities and then you yourselves became worshippers. You have taken 84 births. For half the cycle, you are worthy of worship and then, for half the cycle, you are worshippers. This account has to be explained. There are deities, warriors, merchants and shudras and, at this time, we are Brahmins; we are BKs. At this time we all have three fathers: a physical father, the incorporeal Father from beyond and the third one is Prajapita Brahma through whom He teaches us Brahmins. You have heard the name, “Prajapita Brahma”, have you not? Creation takes place through Brahma. You too are Brahmins. You too should remember the Father. The Father says: I have come to take you back. The incorporeal Father speaks to you souls. You even say: I shed a body and take another one. The name and form of the body change, but the soul is the same. The name of the Father is also just the one name, Shiva. He doesn’t have a body. You should note these points down and explain them according to the person in front of you. We BKs are claiming our inheritance from our Grandfather. He is teaching us Raja Yoga and giving us knowledge. To change from human beings into deities is also an aspect of knowledge. It is at the confluence age that you receive this knowledge through which you will claim your inheritance in the new world. He comes into the impure world and establishes the pure world. The Father has now come to take you back home. According to the drama, everyone has to return home. First of all, there is the sun dynasty and then the moon dynasty. Then they become merchants and then shudras. That is the tree of incorporeal souls. This is the tree of corporeal human beings. There are the Brahmins, deities, warriors, merchants and shudras: the whole of the variety-form image is included in this. The number of Brahmins continues to grow. The rosaries of Rudra and Vishnu will be created. There cannot be a rosary of Brahma because Brahmins keep changing. This is why the rosary of Rudra is worshipped. These are new things. These things are not in the intellect of anyone at all. They have said that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years and this is why everyone feels that everything you say is new. You receive new things for the new world. Baba is also, in fact, new. Those people say that He is beyond name and form or they say that He is brighter than a thousand suns. They receives a vision according to their belief and devotion. If they were to have a vision of a point, none of them would believe it. Because all of these things are new, they all become confused. The sapling will be planted of only those who belong here. You children have now understood very clearly and so you also have to explain about the Father from beyond. For half the cycle you have been remembering Him. You only remember those who give you happiness. Ravan is everyone’s enemy and this is why they burn his effigy. Ask them: For how long have you been burning an effigy of Ravan? They would reply that they have been doing this eternally. They don’t even know when Ravan comes. Ravan doesn’t exist in the golden age. Ravan is the oldest enemy of Bharat. He is the one who makes the spirits impure. Who is the enemy of souls? Ravan. Together with the soul, there is also the body. So, who is the enemy of both? (Ravan.) Is there a soul in Ravan? What is Ravan? He is the vices. It isn’t that there is a soul in Ravan. The five vices are called Ravan. The five vices are in souls and they make an effigy of those. You know that there is now sorrow and that you then have to go into happiness. Therefore, the Father would surely come and take you there. He alone is the Purifier. Just as other souls come, similarly He too comes. When they feed a departed soul, they invoke that soul. They consider him to be the soul of their father, and they invite a brahmin priest to do everything. They believe that that soul comes and speaks. Yes, this One’s coming is unique. This is the chariot of God. He is also called Bhagirath (the lucky chariot). It is not a question of water; all of this is a matter of knowledge. The Father explains: I enter an ordinary body and name this one Brahma. I don’t adopt him. I enter him and then adopt you. You say: Shiv Baba, I belong to You. Your intellect’s yoga goes up above, because Baba Himself says: Remember Me and your sins will be absolved. Stay on this pilgrimage. For instance, even if this Baba goes somewhere, you still have to remember Shiv Baba. Shiv Baba went to Delhi and Kanpur in this chariot. Let there be the remembrance of Shiv Baba in your intellects. You mustn’t stay down below. Your intellects should remain up above. Souls remember the Father, the Supreme Soul. The Father says: My residence is up above. You mustn’t wander around after Me here. Remember Me up there. You souls also reside there with the Father. It isn’t that the Father’s residence is separate from yours; no. Make these things sit in your intellects. You should explain to each one individually, just as you used to explain in Karachi. That is better. When you explain to many together, the vibrations of one another don’t allow them to stay. Devotion is performed in solitude. This study too should be studied in solitude. First of all give the Father’s introduction. The Father is the Purifier and we are becoming pure through Him. The Father says: Children, if you become pure in this final birth you will become the masters of the world. This is such a big income. The Father says: You may do your business etc. but simply remember Me. Become pure and the alloy will be removed with the power of yoga; you will become satopradhan. Your stage will become constant, stable and karmateet. Your intellect should continue to churn this knowledge. Continue to explain to your friends and relatives too. This was explained to you in this way in the previous cycle too. This is not a new thing. Baba comes and explains to us every cycle and we then explain to the people of the world. Bharat was truly heaven and it will become that once again. This cycle continues to turn. How could the golden age be hundreds of thousands of years? There isn’t even that much population, because there would then be countless people. There are four ages and the duration of each age is 1,250 years. You will continue to explain just as you yourselves have understood. The tree will continue to grow. Sometimes, there are bad omens, and then they are removed. The Father explains: It is very easy to explain Alpha and beta. The main thing is the pilgrimage of remembrance. There is effort in that. You are given this business of remembrance after a cycle, but it is incognito. This is a difficult subject. You have to remember Alpha because it is Alpha that you have forgotten. No one knows God. It is remembered that there is extreme darkness without the Satguru. Only the one Satguru takes you into light. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make the soul satopradhan with the power of yoga and reach the constant, stable, karmateet stage. Make incognito effort for remembrance and also study in solitude.
  2. In order to claim the inheritance of liberation and liberation-in-life, you definitely do have to become pure in this final birth.
Blessing: May you be a “number one”, victorious soul who becomes completely pure by renouncing any trace of all the vices.
Those who do not have the slightest trace of impurity are said to be completely pure. Purity is the personality of Brahmin life. It is this personalitythat enables you to have success easily in service. However, if there is a trace of even one vice, then its companions would definitely also be with that one. Just as happiness and peace are with purity, similarly, the five vices have a deep relationship with impurity. Therefore, let there not be any trace of even one of the vices for only then will you become “number one” victorious.
Slogan: Take one step of courage and you will receive a thousand steps of help.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2017

To Read Murli 26 December 2017 :- Click Here
27/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – 3 बाप का राज़ सबको कहानी मिसल सुनाओ, जब तक बेहद बाप को पहचानकर पावन नहीं बने हैं तब तक वर्सा मिल नही सकता”
प्रश्नः- बाबा बिल्कुल ही नया है, उसने तुमको अपना कौन सा नया परिचय दिया है?
उत्तर:- बाबा को मनुष्यों ने हजारों सूर्य से तेजोमय कहा लेकिन बाबा कहता मैं तो बिन्दी हूँ। तो नया बाबा हुआ ना। पहले अगर बिन्दी का साक्षात्कार होता तो कोई मानता ही नहीं इसलिए जैसी जिसकी भावना होती है उन्हें वैसा ही साक्षात्कार हो जाता है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। निराकार भगवानुवाच, सिर्फ भगवानुवाच कहने से कृष्ण का नाम याद आ जाता है क्योंकि आजकल भगवान सब हो पड़े हैं इसलिए निराकार शिव भगवानुवाच कहते हैं। गॉड फादर कहा जाता है। निराकार भगवानुवाच, किसके प्रति? निराकार बच्चों, रूहों प्रति। रूहानी भगवानुवाच वा ईश्वर वाच यह अक्षर शोभता नहीं है। निराकार भगवानुवाच शोभता है। अब घड़ी-घड़ी तो नहीं कहेंगे। यह है बहुत गुप्त। इनका चित्र निकल न सके। बिन्दी बनाकर भगवानुवाच लिखें तो कोई मानेंगे नहीं। भगवान के यथार्थ नाम, रूप, देश, काल को कोई जानते ही नहीं। अगर बाप को जान जायें तो रचना को भी जान जायें। परन्तु न जानना ही उन्हों का ड्रामा में नूँधा हुआ है, तब तो फिर बाप आकर अपनी पहचान दे। बाप कहते हैं जब मेरा पार्ट होता है पतितों को पावन बनाने का, तब ही आकर मैं अपनी पहचान देता हूँ। पुरानी दुनिया को नया बनाता हूँ। पुरानी दुनिया में रहने वाले मनुष्य नई दुनिया में रहने वाले मनुष्यों को पूजते हैं। तुम बच्चों को समझाना है। जबकि ऋषि-मुनि आदि सब कहते हैं हम रचता और रचना को नहीं जानते फिर तुमने कहाँ से जाना। अगर तुम बाप को, रचना को जानते हो तो हमको नॉलेज दो। कभी कोई को दे नहीं सकते। वर्सा दे न सकें। तुम बच्चों को बाप से वर्सा मिल रहा है। तुम जानते हो बेहद का बाप आया हुआ है, नई दुनिया का वर्सा अथवा सुख देने। तो जरूर दु:ख खत्म हो जायेगा। वह है सुखधाम, यह है दु:खधाम। अब इस दु:खधाम का विनाश होना है। नई दुनिया ही अब पुरानी हुई है, फिर नई बन जायेगी। नई दुनिया को सतयुग, पुरानी दुनिया को कलियुग कहा जाता है। नई दुनिया में जरूर मनुष्य थोड़े होने चाहिए। सतयुग में एक ही धर्म था। इस समय तो अनेक धर्म हैं, दु:ख भी है। सुख से दु:ख, दु:ख से फिर सुख होता है। यह खेल बना हुआ है। दु:ख कौन देते हैं, यह किसको पता ही नहीं है। रावण को माया कहा जाता है। धन को माया नहीं कहा जाता है। विकारी मनुष्य जानते हैं कि देवतायें निर्विकारी हैं। परन्तु उन्हों को विकारों का नशा चढ़ा हुआ है। देवताओं को है निर्विकारीपने का नशा। वहाँ अपवित्र कोई होते नहीं हैं। संगम पर ही तुम बच्चों को पवित्रता का राज़ समझाया जाता है। तुमको फिर औरों को समझाना है। बाप तो सारी दुनिया को बैठ समझायेगा नहीं। बच्चों को ही समझाना है परन्तु समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। सबको बताओ, भारत जो स्वर्ग नई दुनिया थी, वह अब पुरानी हो गई है। रचयिता तो बाप ही है। वह खुद कहते हैं मैं ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना करता हूँ। बच्चों को एडाप्ट करता हूँ। ब्रह्मा का नाम ही प्रजापिता है। तो जरूर इतने बच्चों को एडाप्ट ही करेंगे। जैसे सन्यासी फालोअर्स को एडाप्ट करते हैं। पुरुष, स्त्री को एडाप्ट करते हैं कि तुम मेरी हो। यहाँ भी तुम कहते हो शिवबाबा मैं आपका हूँ। घर बैठे भी बहुतों को टच हो जाता है फिर क्या कहते हैं? कि भल बाबा हमने आपको देखा नहीं हैं क्योंकि बंधन में हूँ – आ नहीं सकती परन्तु मैं हूँ आपकी। पवित्र तो जरूर बनना पड़े। पतित मुक्ति-जीवनमुक्ति में जा नहीं सकते। पतित पुकारते हैं कि आओ आकर पावन बनाओ।

तुम बच्चों को समझाना चाहिए कि भारत स्वर्ग था। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे, जरूर डिनायस्टी चली होगी। नई दुनिया में नया राज्य था, अब वह नहीं है। और अनेक धर्म हैं, देवता धर्म है नहीं। यह पुरानी दुनिया कब तक चलेगी? वह सतयुग को लाखों वर्ष कह देते हैं। महाभारी लड़ाई का भी गायन है। बीच में थोड़ी खिटपिट हुई थी तो कहते थे महाभारत लड़ाई का समय है। यादवों की लड़ाई भी दिखाते हैं कि मूसलों द्वारा अपना विनाश किया। कभी लिखते हैं पाण्डवों और कौरवों की युद्ध, कभी लिखते हैं असुर और देवताओं की। आसुरी दुनिया के बाद फौरन दैवी दुनिया है। वह पतित, यह पावन। पावन देवता कैसे लड़ेंगे? वह हैं सतयुग में, यह कलियुग में दोनों की लड़ाई कैसे हो सकती है। देवतायें अहिंसक, असुर हिंसक। देवतायें नर्क में कैसे आयेंगे। अभी तुम संगम पर हो, नई दुनिया स्थापन होती है। उसके लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। दो बाप का राज़ भी कहानी मिसल समझाना चाहिए। सतयुग में है एक बाप। बेहद के बाप को याद करते ही नहीं क्योंकि सुखधाम है। द्वापरयुग में हैं दो बाप। लौकिक बाप होते भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। आत्मा ही अपने बाप को याद करती है क्योंकि आत्मा ही दु:ख सहन करती है। पुण्य आत्मा, पाप आत्मा। आत्मा ही सुनती है। संस्कार आत्मा में हैं। जिनमें दैवी संस्कार नहीं हैं, वह दैवी संस्कार वालों का गायन करते हैं। गाया भी जाता है आपेही पूज्य आपेही पुजारी। पुजारी बनते हैं तो गाते हैं मुझ निर्गुण हारे में… उनमें गुण हैं हमारे में नहीं हैं। पूज्य सो पुजारी। तुम ही पूज्य सो देवता थे, फिर तुम ही पुजारी बने हो। 84 जन्म लिए हैं। आधाकल्प पूज्य आधाकल्प पुजारी। हिसाब समझाना पड़े। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र…. इस समय हम ब्राह्मण हैं। बी.के. हैं। इस समय हमको 3 बाप हो जाते हैं। लौकिक बाप, निराकार पारलौकिक बाप, तीसरा फिर प्रजापिता ब्रह्मा। जिस द्वारा हम ब्राह्मणों को पढ़ाते हैं। प्रजापिता नाम तो सुना है ना। ब्रह्मा द्वारा रचते हैं। तुम भी ब्राह्मण हो। तुम भी बाप को याद करो। बाप कहते हैं मैं आया हूँ – तुमको वापिस ले जाने। निराकार बाप आत्माओं से बात करते हैं। तुम कहते भी हो हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। शरीर का नाम रूप बदल जाता है। आत्मा तो एक ही है। बाप का नाम भी एक ही शिव है। उनको शरीर तो है नहीं। यह प्वाइंट भी नोट करनी चाहिए। फिर जैसा आदमी वैसा ही समझाना है। हम बी.के. दादे से वर्सा ले रहे हैं। वही राजयोग और ज्ञान की नॉलेज देते हैं। मनुष्य से देवता बनना, यह भी नॉलेज है। नॉलेज मिलती है संगम पर। जिससे फिर नई दुनिया में वर्सा पाते हैं। पतित दुनिया में आकर पावन दुनिया स्थापन करते हैं। अभी बाप आया है घर ले जाने। ड्रामा अनुसार सबको घर जाना है फिर पहले सूर्यवंशी, फिर चन्द्रवंशी, फिर वैश्य, शूद्र वंशी बन जाते हैं। वह है निराकार आत्माओं का झाड़, यह है साकारी मनुष्यों का झाड़। ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र… इसमें सारा विराट रूप आ जाता है। ब्राह्मण वृद्धि को पाते रहते हैं। रूद्र माला और विष्णु की माला बनेगी। ब्रह्मा की माला नहीं कह सकते क्योंकि बदलते रहते हैं इसलिए रूद्र माला पूजी जाती है। यह हैं नई-नई बातें। यह बातें कोई की बुद्धि में जरा भी नहीं हैं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं, इसलिए तुम्हारी बातें सबको नई लगती हैं। नई दुनिया के लिए नई चीज़ मिलती है। बाबा भी वास्तव में नया है। वह तो कहते हैं नाम-रूप से न्यारा है या तो कह देते हैं हजारों सूर्य से तेजोमय है। सो तो जरूर जैसी भावना होगी वैसा साक्षात्कार होगा। बिन्दी का साक्षात्कार हो तो कोई माने ही नहीं। यह सब बातें नई होने कारण मूँझते हैं। जो यहाँ के होंगे, उनकी ही सैपलिंग लगेगी। तुम बच्चों ने अब अच्छी तरह समझा है तो पारलौकिक बाप के लिए भी समझाना है। तुम आधाकल्प से उनको याद करते आये हो। सुख देने वाले को ही याद किया जाता है। रावण सबका दुश्मन है, तब तो उनको जलाते हैं। पूछो – रावण को जलाते कितना समय हुआ? बोलेंगे अनादि। उन्हों को यह मालूम ही नहीं रावण कब से आता है। सतयुग में तो रावण होता नहीं। भारत का सबसे पुराना दुश्मन रावण है। रूह को पतित बनाने वाला है। आत्मा का दुश्मन कौन? रावण। आत्मा के साथ शरीर भी है। तो दोनों का दुश्मन कौन हो गया? (रावण) रावण में आत्मा है? रावण क्या चीज़ है? बस विकार हैं। ऐसे नहीं कि रावण में भी आत्मा है। रावण 5 विकारों को कहा जाता है। आत्मा में ही 5 विकार हैं, जिसका पुतला बनाते हैं। तुम जानते हो अभी है दु:ख फिर सुख में जाना है तो जरूर बाप आकर ले जायेंगे। वही पतित-पावन है। जैसे दूसरी आत्मा आती है वैसे यह भी आते हैं। श्राध खिलाते हैं तो आत्मा को बुलाते हैं। ब्राह्मण को ही अपने बाप की आत्मा समझ सब कुछ करते हैं। समझते हैं वह आत्मा आती है। आत्मा बोलती है। हाँ इनका आना न्यारा है। यह है भगवान का रथ। भागीरथ कहते हैं। पानी की बात नहीं, यह है सारी ज्ञान की बात। बाप समझाते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ, इनका नाम ब्रह्मा रखा है। इनको एडाप्ट नहीं करता हूँ। इनमें प्रवेश करता हूँ फिर तुमको एडाप्ट करता हूँ। तुम कहते हो शिवबाबा मैं आपका हूँ। तुम्हारा बुद्धियोग ऊपर चला जाता है क्योंकि बाबा खुद कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। इस यात्रा पर रहो। समझो, यह बाबा कहाँ जाता है तो याद शिवबाबा को करना है। शिवबाबा इस रथ में देहली गया, कानपुर गया… बुद्धि में शिवबाबा की याद रहे। नीचे नहीं रहना है, बुद्धि ऊपर रहे। आत्मा, परमात्मा बाप को याद करे। बाप कहते मेरा रहने का स्थान तो वहाँ ऊपर है। हमारे पिछाड़ी यहाँ नहीं भटकना है। तुम मुझे भी वहाँ याद करो। तुम आत्मायें भी बाप के साथ रहने वाली हो। ऐसे नहीं बाबा का स्थान अलग, तुम्हारा अलग है, नहीं। यह बातें बुद्धि में बिठानी है। एक-एक को अलग जैसे तुम कराची में समझाते थे वैसे अच्छा रहता है। इकट्ठे एक दो के वायब्रेशन ठहरने नहीं देते हैं। भक्ति भी एकान्त में करते हैं। यह पढ़ाई भी एकान्त में करनी है। पहले बाप का परिचय देना है। बाप पतित-पावन है, उन द्वारा हम पावन बन रहे हैं।

बाप कहते हैं – बच्चे यह अन्तिम जन्म पावन बनेंगे तो विश्व के मालिक बनेंगे। कितनी बड़ी कमाई है। बाप कहते हैं – धन्धा आदि भल करो सिर्फ मुझे याद करो, पावन बनो तो योगबल से तुम्हारी खाद निकल जायेगी। तुम सतोप्रधान बन जायेंगे, एकरस कर्मातीत अवस्था बन जायेगी। बुद्धि में ज्ञान का सिमरण करते रहो। मित्र-सम्बन्धियों को भी यह समझाते रहो। कल्प पहले भी तुमको ऐसे समझाया था। कोई नई बात नहीं है। कल्प-कल्प बाबा आकर हमको समझाते हैं हम फिर दुनिया वालों को समझाते हैं। भारत बरोबर स्वर्ग था फिर बनेगा। यह चक्र फिरता रहता है। सतयुग को लाखों वर्ष कैसे हो सकते हैं। इतनी आदमशुमारी कहाँ है फिर तो अनगिनत हो जायें। 4 युग हैं, हर एक युग की आयु 1250 वर्ष है। जैसे तुमने समझा है वैसे समझाते रहेंगे। झाड़ की वृद्धि होती रहेगी। कभी ग्रहचारी बैठती है फिर उतरती जाती है। बाप कहते हैं – समझाना बहुत सहज है। अल्फ बे। मूल बात है याद की यात्रा। मेहनत भी है। कल्प के बाद यह याद का धन्धा मिलता है, परन्तु है गुप्त। यह मुश्किल सबजेक्ट है। अल्फ को याद करना, अल्फ को ही भूले हो। भगवान को कोई जानते नहीं। गाया भी जाता है सतगुरू बिगर घोर अन्धियारा। सोझरे में एक ही सतगुरू ले जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योगबल से आत्मा को सतोप्रधान बनाकर एकरस कर्मातीत अवस्था तक पहुँचना है। याद की गुप्त मेहनत करनी है, एकान्त में पढ़ाई करनी है।

2) बाप से मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा लेने के लिए इस अन्तिम जन्म में पवित्र जरूर बनना है।

वरदान:- सर्व विकारों के अंश का भी त्याग कर सम्पूर्ण पवित्र बनने वाले नम्बरवन विजयी भव 
सम्पूर्ण पवित्र वह है जिसमें अपवित्रता का अंश-मात्र भी न हो। पवित्रता ही ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी है। यह पर्सनैलिटी ही सेवा में सहज सफलता दिलाती है। लेकिन यदि एक भी विकार का अंश है तो दूसरे साथी भी उसके साथ जरूर होंगे। जैसे पवित्रता के साथ सुख-शान्ति है, ऐसे अपवित्रता के साथ पांचों विकारों का गहरा संबंध है, इसलिए एक भी विकार का अंश न रहे तब नम्बरवन विजयी बनेंगे।
स्लोगन:- हिम्मत का एक कदम रखो तो हजार गुणा मदद मिल जायेगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize