daily murli 27 August

TODAY MURLI 27 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 August 2020

27/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to change this brothel into the Temple of Shiva. Your duty is to give God’s message to even prostitutes and to benefit them.
Question: Which children cause themselves a great loss?
Answer: Those who miss murli class due to any reason cause themselves a great loss. Some children sulk with one another and stop coming to class. They make one excuse or another and remain sleeping at home. By doing this they only cause themselves a loss, because Baba shares one or another new point every day. If you don’t hear it, how could you put it into practice?

Om shanti. Sweetest, spiritual children, even though Maya makes you forget, you do know that you are now making effort to become the masters of the world. Maya makes some of you forget this the whole day. They don’t even remember the Father, otherwise, they would experience that happiness. They even forget that God is teaching them. By forgetting this, they are unable to do service. Last night, Baba explained that you have to serve the prostitutes, the most degraded ones of all. Inform the prostitutes that they can become empresses of the world of heaven by imbibing the Father’s knowledge. The wealthy can’t become that. Those who are educated and know everything can arrange for them to receive this knowledge. The poor things will then be very happy because those women too are weak. You can explain to them. The Father continues to explain many methods. Tell them: You were the highest of all and have now become the lowest of all. It is because of your name that Bharat has become a brothel. You can once again go to the Temple of Shiva by making this effort. You now perform such dirty acts just for money. Now stop doing that. By explaining to them in this way they will become very happy. No one can stop you because this is something good. God belongs to the poor. They do such dirty work for money. It is like a business for them. You children say that you will now create ways to make service expand. Some children sulk because of something or other and stop studying. They don’t realise that if they don’t study, they cause a loss for themselves. They sulk and say, “So-and-so said this and that”, and they stop coming. They hardly come once a week. Baba gives different advice in the murli every day. You must listen to the murli. It is only when you come to class that you can hear it. There are many who make excuses due to one reason or another and just go back to sleep. “OK, today I won’t go to class.” However, Baba speaks very good points. If you do service you claim a high status. This is a study. There are many scholars who study the scriptures in Benares Hindu University. When they don’t have anything else to do they learn the scriptures by heart and start a spiritual gathering. There is no aim there. Through this study, everyone’s boat can go across. Therefore, you children should serve those who are the most degraded. When wealthy people hear that such women come here, they don’t feel like coming here. Because they are body conscious, they feel embarrassed. OK, open a separate school for them. Other studies, for the livelihood of bodies, are only worth a few pennies whereas this study is for 21 births. So many can be benefitted. Generally, it is the mothers who ask if they can open a Gita Pathshala in their homes. They have a lot of enthusiasm for doing God’s service. Men are constantly wandering around in their clubs etc. For the wealthy, it is heaven here. They continue to follow so much fashion etc., but look what the natural beauty of the deities is like. There is so much difference! Here, you are told the truth and yet so few come and even those are the poor. People quickly go to other such places. They even go there wearing a lot of make-up etc. Gurus now even arrange engagements. Here, it is only to save someone that an engagement is arranged for her. She can then be saved from climbing onto the pyre of lust and can become multimillion times fortunate by sitting on the pyre of knowledge. She tells her parents: Stop this business of ruining me and let’s all go to heaven. The parents reply: What can we do? People and society will get upset with us and say that we are defaming the name of the clan. Not to get married is against the rules of society. They can’t let go of people’s opinions and the code of conduct of their clan. On the path of devotion, they sing: Mine is only One and none other. There are also Meera’s songs. Among the females, Meera is the number one devotee. Narad has been remembered as number one of the males. There is a story about Narad. When a new person asks you whether he can marry Lakshmi, ask him to examine himself to see if he is worthy. Ask him: Are you completely pure, full of all virtues etc? This world is vicious and impure. The Father has come to remove you from it and to purify you. Become pure and you will then become worthy enough to marry Lakshmi. Some come to Baba and make a promise. Then they go home and indulge in vice. Baba receives such news. Baba says: The Brahmin teacher who brings such people here also becomes affected. There is the story of the Court of Indra. Those who bring such people here are also punished. Baba always tells you teachers not to bring weak ones here. Otherwise, even your stage will fall, because you are bringing them against the rules. In fact, it is very easy to become a Brahmin teacher. You can become that in 10 to 15 days. Baba shows you very easy methods to explain to anyone. You people of Bharat belonged to the original eternal deity religion. You were residents of heaven. You are now residents of hell. You have to become residents of heaven once again. Therefore, renounce the vices. Simply remember the Father and you will be absolved of your sins. It is so easy! However, some don’t understand at all. If they themselves don’t understand, what would they explain to others? There are strings of attachment even when someone is in his stage of retirement. Nowadays, not that many people go into the stage of retirement (leaving everything and going away). They are tamopradhan; they remain trapped here. Earlier, there used to be big ashrams for those who wanted to retire. There aren’t as many of them nowadays. Even when they are 80 to 90 years old, some don’t leave their home. They don’t even understand that they have to go beyond sound and that they should now remember God. They don’t know who God is. They say that He is omnipresent, so whom would they remember? They don’t even realise that they are worshippers. The Father is changing you from worshippers to being worthy of worship and that too is for 21 births. Therefore, you definitely have to make effort for this. Baba has explained that this old world has to be destroyed. You now have to go back home. There should just be this one concern. There is nothing criminal there. The Father comes and inspires you to make preparations for that pure world. He will seat the beloved serviceable children in His eyes and take them back with Him. One needs courage to uplift those who are the most degraded. There are big groups working for that Government. They are all very well educated and tip-top (fashionable). Here, many are poor and ordinary. The Father sits here and uplifts them so much. Your behaviour has to be very royal; God is teaching you! When someone passes an important examination in other studies, he becomes so tip-top. Here, the Father is the Lord of the Poor. It is the poor who send something or other here. They even send a money order of one or two rupees. The Father says: You are so greatly fortunate. You will receive so much in return. This is nothing new. Observe the drama as detached observers. The Father says: Children, study very well. This is God’s yagya and you can take whatever you want. However, if you take anything here, you receive less there. You are going to receive everything in heaven. Baba needs very active and alert children for doing service: children like Sudesh and Mohini who have a lot of enthusiasm for doing service. Your names will be glorified a great deal. People will then give you a lot of respect. Baba continues to give you all directions. Baba tells the children that, whenever they have time, to stay in remembrance! When the days of their examinations are coming close, students go and study in solitude. They even have private teachers. We have many teachers, but you must be interested in studying. The Father explains everything so easily. Simply have the faith that each of you is a soul. That body is perishable whereas you, the soul, are imperishable. You only receive this knowledge once. From the golden age to the end of the iron age, no one else can receive it. Only you receive it. Have the firm faith that you are souls. We are receiving our inheritance from the Father. Only by having remembrance of the Father will you be absolved of your sins. That’s all. Even by continuing to repeat this silently to yourself, there can be a lot of benefit. However, you children forget to keep your charts. You get tired of writing them. Baba explains the knowledge in such an easy way. I, the soul, was satopradhan and have now become tamopradhan. The Father now says: Remember Me and you will become satopradhan. This is so easy, and yet you forget. For as long as you sit here, consider yourselves to be souls. I, a soul, am a child of Baba. By remembering the Father you receive the sovereignty of heaven. By remembering the Father your sins of half the cycle are burnt away. Baba is showing you such an easy method! All the children hear this. This Baba also practises this himself. This is why he is able to teach you. I am Baba’s chariot and Baba is feeding me. You children too should think in the same way. There is so much benefit in continuing to remember Shiv Baba, but you forget. This is so easy! When you don’t have any customers in your business, sit down in remembrance: I am a soul. I have to remember Baba. Even when you are ill, you can remember Baba. If you are in bondage, then sit there and continue to remember Baba and you can claim a status even higher than those who have been here for 10 to 20 years. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become very alert and active in service. Whenever you find time, sit down in solitude and remember the Father. Be deeply interested in studying. Never sulk with the study.
  2. Let your behaviour be very, very royal. We now have to return home. This old world is to be destroyed. Therefore, break all strings of attachment. Practise staying in the stage of retirement (beyond sound). Serve even the most degraded ones to uplift them.
Blessing: May you make your fortune great with your renunciation like Father Brahma and become a number one angel and so a world emperor.
The children who follow every step Father Brahma in his actions are the children who receive the blessing of becoming number one angels and so world emperors. Their minds and intellects are always surrendered to the Father. Father Brahma, with this great renunciation, received great fortune, that is, he became the number one perfect angel who become the number one world emperor. In the same way, the children who follow the father, will be great and full renunciates. They will discard all trace of vice from even their sanskars.
Slogan: All supports are now to break and so make the one Father your Support.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं इस वेश्यालय को शिवालय बनाने। तुम्हारा कर्तव्य है – वेश्याओं को भी ईश्वरीय सन्देश दे उनका भी कल्याण करना”
प्रश्नः- कौन-से बच्चे अपना बहुत बड़ा नुकसान करते हैं?
उत्तर:- जो किसी भी कारण से मुरली (पढ़ाई) मिस करते हैं, वह अपना बहुत बड़ा नुकसान करते हैं। कई बच्चे तो आपस में रूठ जाने के कारण क्लास में ही नहीं आते। कोई न कोई बहाना बनाकर घर में ही सो जाते हैं, इससे वे अपना ही नुकसान करते हैं क्योंकि बाबा तो रोज़ कोई न कोई नई युक्तियाँ बताते रहते हैं, सुनेंगे ही नहीं तो अमल में कैसे लायेंगे।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे यह तो जानते हैं कि अभी हम विश्व के मालिक बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। भल माया भी भुला देती है। कोई-कोई को तो सारा दिन भुला देती है। कभी याद ही नहीं करते जो खुशी भी हो। हमको भगवान पढ़ाते हैं यह भी भूल जाते हैं। भूल जाने के कारण फिर कोई सर्विस नहीं कर सकते। रात को बाबा ने समझाया – अधम ते अधम जो वेश्यायें हैं उनकी सर्विस करनी चाहिए। वेश्याओं के लिए तुम एलान करो कि तुम बाप के इस ज्ञान को धारण करने से स्वर्ग के विश्व की महारानी बन सकती हो, साहूकार लोग नहीं बन सकते। जो जानते हैं, पढ़े लिखे हैं वह प्रबन्ध करेंगे, उन्हों को ज्ञान देने का, तो बिचारी बहुत खुश होंगी क्योंकि वह भी अबलायें हैं, उनको तुम समझा सकते हो। युक्तियाँ तो बहुत ही बाप समझाते रहते हैं। बोलो, तुम ही ऊंच ते ऊंच, नीच ते नीच बनी हो। तुम्हारे नाम से ही भारत वेश्यालय बना है। फिर तुम शिवालय में जा सकती हो – यह पुरूषार्थ करने से। तुम अभी पैसे के लिए कितना गंदा काम करती हो। अब यह छोड़ो। ऐसा समझाने से वह बहुत खुश होंगी। तुमको कोई रोक नहीं सकते। यह तो अच्छी बात है ना। गरीबों का है ही भगवान। पैसे के कारण बहुत गंदा काम करती हैं। उन्हों का जैसे धन्धा चलता है। अभी बच्चे कहते हैं हम युक्तियाँ निकालेंगे, सर्विस वृद्धि को कैसे पाये। कोई बच्चे कोई न कोई बात में रूठ भी पड़ते हैं। पढ़ाई भी छोड़ देते हैं। यह नहीं समझते कि हम नहीं पढ़ेंगे तो अपना ही नुकसान करेंगे। रूठकर बैठ जाते हैं। फलानी ने यह कहा, ऐसे कहा इसलिए आते नहीं। हफ्ते में एक बार मुश्किल आते हैं। बाबा तो मुरलियों में कभी क्या राय, कभी क्या राय देते रहते हैं। मुरली सुनना तो चाहिए ना। क्लास में जब आयेंगे तो सुनेंगे। ऐसे बहुत हैं, कारण-अकारणे बहाना बनाए सो जायेंगे। अच्छा, आज नहीं जाते हैं। अरे, बाबा ऐसी अच्छी-अच्छी प्वाइन्ट्स सुनाते हैं। सर्विस करेंगे तो ऊंच पद भी पायेंगे। यह तो है पढ़ाई। बनारस हिन्दू युनिवर्सिटी आदि में शास्त्र बहुत पढ़ते हैं। दूसरा कोई धन्धा नहीं होगा तो बस शास्त्र कण्ठ कर सतसंग शुरू कर देते हैं। उनमें उद्देश्य आदि तो कुछ है नहीं। इस पढ़ाई से तो सबका बेड़ा पार होता है। तो तुम बच्चों को ऐसे-ऐसे अधम की सर्विस करनी है। साहूकार लोग जब देखेंगे यहाँ ऐसे-ऐसे आते हैं तो उनके आने की दिल नहीं होगी। देह-अभिमान है ना। उनको लज्जा आयेगी। अच्छा, तो उनका एक अलग स्कूल खोल लो। वह पढ़ाई तो है पाई पैसे की, शरीर निर्वाह अर्थ। यह तो है 21 जन्मों के लिए। कितनों का कल्याण हो जायेगा। अक्सर करके मातायें भी पूछती हैं कि बाबा घर में गीता पाठशाला खोलें? उन्हों को ईश्वरीय सेवा का शौक रहता है। पुरूष लोग तो इधर-उधर क्लब आदि में घूमते रहते हैं। साहूकारों के लिये तो यहाँ ही स्वर्ग है। कितने फैशन आदि करते रहते हैं। लेकिन देवताओं की तो नैचुरल ब्युटी देखो कैसी है। कितना फ़र्क है। वैसे यहाँ तुमको सच सुनाया जाता है तो कितने थोड़े आते हैं। सो भी गरीब। उस तरफ झट चले जाते हैं। वहाँ भी श्रृंगार आदि करके जाते हैं। गुरू लोग सगाई भी कराते हैं। यहाँ किसकी सगाई कराई जाती है तो भी बचाने के लिए। काम चिता पर चढ़ने से बच जाए। ज्ञान चिता पर बैठ पद्म भाग्यशाली बन जाएं। माँ-बाप को कहते हैं यह बरबादी का धंधा छोड़ चलो स्वर्ग में। तो कहते हैं क्या करें, यह दुनिया वाले हमारे ऊपर बिगड़ेंगे कि कुल का नाम बदनाम करते हैं। शादी न कराना कायदे के बरखिलाफ है। लोक लाज, कुल की मर्यादा छोड़ते नहीं हैं। भक्ति मार्ग में गाते हैं – मेरा तो एक, दूसरा न कोई। मीरा के भी गीत हैं। फीमेल्स में नम्बरवन भक्तिन मीरा, मेल्स में नारद गाया हुआ है। नारद की भी कहानी है ना। तुमको कोई नया आदमी कहे – मैं लक्ष्मी को वर सकता हूँ। तो बोलो, अपने को देखो लायक हो? पवित्र सर्वगुण सम्पन्न… हो? यह तो विकारी पतित दुनिया है। बाप आये हैं उनसे निकाल पावन बनाने। पावन बनो तब तो लक्ष्मी को वरने के लायक बन सकेंगे। यहाँ बाबा के पास आते हैं, प्रतिज्ञा करते फिर घर में जाकर विकार में गिरते हैं। ऐसे-ऐसे समाचार आते हैं। बाबा कहते हैं ऐसे-ऐसे को जो ब्राह्मणी ले आती है उनके ऊपर भी असर पड़ जाता है। इन्द्र सभा की कहानी भी है ना। तो ले आने वाले पर भी दण्ड पड़ जाता है। बाबा ब्राह्मणियों को हमेशा कहते हैं कच्चे-कच्चे को मत ले आओ। तुम्हारी अवस्था भी गिर पड़ेगी क्योंकि बेकायदे ले आये। वास्तव में ब्राह्मणी बनना है बहुत सहज। 10-15 दिन में बन सकती है। बाबा किसको भी समझाने की बहुत सहज युक्ति बताते हैं। तुम भारतवासी आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे, स्वर्गवासी थे। अब नर्कवासी हो फिर स्वर्गवासी बनना है तो यह विकार छोड़ो। सिर्फ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हो जाएं। कितना सहज है। परन्तु कोई बिल्कुल समझते नहीं हैं। खुद ही नहीं समझते तो औरों को क्या समझायेंगे। वानप्रस्थ अवस्था में भी मोह की रग जाती रहती है। आजकल वानप्रस्थ अवस्था में इतने नहीं जाते हैं। तमोप्रधान हैं ना। यहाँ ही फंसे रहते हैं। आगे वानप्रस्थियों के बड़े-बड़े आश्रम थे। आजकल इतने नहीं हैं। 80-90 वर्ष के हो जाते तो भी घर को नहीं छोड़ते। समझते ही नहीं कि वाणी से परे जाना है। अब ईश्वर को याद करना है। भगवान कौन है, यह सब नहीं जानते। सर्वव्यापी कह देते तो याद किसको करें। यह भी नहीं समझते कि हम पुजारी हैं। बाप तो तुमको पुजारी से पूज्य बनाते हैं सो भी 21 जन्मों के लिए। इसके लिए पुरूषार्थ तो करना पड़ेगा।

बाबा ने समझाया है यह पुरानी दुनिया तो खत्म होनी है। अभी हमको जाना है घर – बस यही तात रहे। वहाँ क्रिमिनल बात होती ही नहीं। बाप आकर उस पवित्र दुनिया के लिए तैयारी कराते हैं। सर्विसएबुल लाडले बच्चों को तो नयनों पर बिठाकर ले जाते हैं। तो अधमों का उद्धार करने के लिए बहादुरी चाहिए, उस गवर्मेन्ट में तो बड़े-बड़े झुण्ड होते हैं। टिपटॉप हो जाते हैं पढ़े-लिखे। यहाँ तो कई गरीब साधारण हैं। उनको बाप बैठ इतना ऊंच उठाते हैं। चलन भी बड़ी रॉयल चाहिए। भगवान पढ़ाते हैं। उस पढ़ाई में कोई बड़ा इम्तहान पास करते हैं तो कितना टिपटॉप हो जाते हैं। यहाँ तो बाप गरीब निवाज़ हैं। गरीब ही कुछ-न-कुछ भेज देते हैं। एक-दो रूपये का भी मनीऑर्डर भेज देते हैं। बाप कहते हैं तुम तो महान् भाग्यशाली हो। रिटर्न में बहुत मिल जाता है। यह भी कोई नई बात नहीं। साक्षी हो ड्रामा देखते हैं। बाप कहते हैं बच्चे अच्छी रीति पढ़ो। यह ईश्वरीय यज्ञ है जो चाहे सो लो। लेकिन यहाँ लेंगे तो वहाँ कम हो जायेगा। स्वर्ग में तो सब कुछ मिलना है। बाबा को तो सर्विस में बड़े फुर्त बच्चे चाहिए। सुदेश जैसी, मोहिनी जैसी, जिनको सर्विस का उमंग हो। तुम्हारा नाम बहुत बाला हो जायेगा। फिर तुमको बहुत मान देंगे। बाबा सब डायरेक्शन देते रहते हैं। बाबा तो कहते हैं यहाँ बच्चों को जितना समय मिले, याद में रहो। इम्तहान के दिन नज़दीक होते हैं तो एकान्त में जाकर पढ़ते हैं। प्राइवेट टीचर भी रखते हैं। हमारे पास टीचर तो बहुत हैं, सिर्फ पढ़ने का शौक चाहिए। बाप तो बहुत सहज समझाते हैं। सिर्फ अपने को आत्मा निश्चय करो। यह शरीर तो विनाशी है। तुम आत्मा अविनाशी हो। यह ज्ञान एक ही बार मिलता है फिर सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक किसको मिलता ही नहीं। तुमको ही मिलता है। हम आत्मा हैं यह तो पक्का निश्चय कर लो। बाप से हमको वर्सा मिलता है। बाप की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। बस। यह अन्दर रटते रहें तो भी बहुत कल्याण हो सकता है। परन्तु चार्ट रखते ही नहीं। लिखते-लिखते फिर थक जाते हैं। बाबा बहुत सहज कर बतलाते हैं। हम आत्मा सतोप्रधान थी, अब तमोप्रधान बनी हूँ। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। कितना सहज है फिर भी भूल जाते हैं। जितना समय बैठो अपने को आत्मा समझो। मैं आत्मा बाबा का बच्चा हूँ। बाप को याद करने से स्वर्ग की बादशाही मिलेगी। बाप को याद करने से आधाकल्प के पाप भस्म हो जायेंगे। कितना सहज युक्ति बतलाते हैं। सब बच्चे सुन रहे हैं। यह बाबा खुद भी प्रैक्टिस करते हैं तब तो सिखाते हैं ना। मैं बाबा का रथ हूँ, बाबा मुझे खिलाते हैं। तुम बच्चे भी ऐसे समझो। शिवबाबा को याद करते रहो तो कितना फायदा हो जाए। परन्तु भूल जाते हैं। बहुत सहज है। धन्धे में कोई ग्राहक नहीं है तो याद में बैठ जाओ। मैं आत्मा हूँ, बाबा को याद करना है। बीमारी में भी याद कर सकते हो। बांधेली हो तो वहाँ बैठ तुम याद करती रहो तो 10-20 वर्ष वालों से भी ऊंच पद पा सकती हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्विस में बहुत-बहुत फुर्त बनना है। जितना समय मिले एकान्त में बैठ बाप को याद करना है। पढ़ाई का शौक रखना है। पढ़ाई से रूठना नहीं है।

2) अपनी चलन बहुत-बहुत रॉयल रखनी है, बस अब घर जाना है, पुरानी दुनिया खत्म होनी है इसलिए मोह की रगें तोड़ देनी हैं। वानप्रस्थ (वाणी से परे) अवस्था में रहने का अभ्यास करना है। अधमों का भी उद्धार करने की सेवा करनी है।

वरदान:- ब्रह्मा बाप समान महा त्याग से महान भाग्य बनाने वाले नम्बरवन फरिश्ता सो विश्व महाराजन भव
नम्बरवन फरिश्ता सो विश्व महाराजन बनने का वरदान उन्हीं बच्चों को प्राप्त होता है जो ब्रह्मा बाप के हर कर्म रूपी कदम के पीछे कदम उठाने वाले हैं। जिनका मन-बुद्धि साकार में सदा बाप के आगे समर्पित है। जैसे ब्रह्मा बाप ने इसी महात्याग से महान भाग्य प्राप्त किया अर्थात् नम्बरवन सम्पूर्ण फरिश्ता और नम्बरवन विश्व महाराजन बनें ऐसे फालो फादर करने वाले बच्चे भी महान त्यागी वा सर्वस्व त्यागी होंगे। संस्कार रूप से भी विकारों के वंश का त्याग करेंगे।
स्लोगन:- अभी सब आधार टूटने हैं इसलिए एक बाप को अपना आधार बनाओ।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 August 2019

To Read Murli 26 August 2019:- Click Here
27-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम पवित्र बनने के बिगर वापिस जा नहीं सकते इसलिए बाप की याद से आत्मा की बैटरी को चार्ज करो और नैचुरल पवित्र बनो।”
प्रश्नः- बाबा तुम बच्चों को घर चलने के पहले कौन-सी बात सिखलाते हैं?
उत्तर:- बच्चे, घर चलने के पहले जीते जी मरना है इसलिए बाबा तुम्हें पहले से ही देह के भान से परे ले जाने का अभ्यास कराते हैं अर्थात् मरना सिखलाते हैं। ऊपर जाना माना मरना। जाने और आने का ज्ञान अभी तुम्हें मिला है। तुम जानते हो हम आत्मा ऊपर से आई हैं, इस शरीर द्वारा पार्ट बजाने। हम असुल वहाँ के रहने वाले हैं, अभी वहाँ ही वापिस जाना है।

ओम् शान्ति। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने में कोई तकलीफ नहीं है, घुटका नहीं खाना है। इसको कहा जाता है सहज याद। पहले-पहले अपने को आत्मा ही समझना है। आत्मा ही शरीर धारण कर पार्ट बजाती है। संस्कार भी सब आत्मा में ही रहते हैं। आत्मा तो इन्डिपेन्डेन्ट है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। यह नॉलेज अभी ही तुमको मिलती है, फिर नहीं मिलेगी। तुम्हारा यह शान्त में बैठना दुनिया नहीं जानती, इसको कहा जाता है नैचुरल शान्ति। हम आत्मा ऊपर से आई हैं, इस शरीर द्वारा पार्ट बजाने। हम आत्मा असुल वहाँ के रहने वाले हैं। यह बुद्धि में ज्ञान है। बाकी इसमें हठयोग की कोई बात नहीं, बिल्कुल सहज है। अभी हम आत्माओं को घर जाना है परन्तु पवित्र बनने बिगर जा नहीं सकते। पवित्र होने के लिए परमात्मा बाप को याद करना है। याद करते-करते पाप मिट जायेंगे। तकलीफ की तो कोई बात ही नहीं। तुम पैदल करने जाते हो तो बाप की याद में रहो। अभी ही याद से पवित्र बन सकते हो। वहाँ वह तो है पवित्र दुनिया। वहाँ उस पावन दुनिया में इस ज्ञान की कोई दरकार नहीं रहती क्योंकि वहाँ कोई विकर्म होता नहीं। यहाँ याद से विकर्म विनाश करने हैं। वहाँ तो तुम नैचुरल चलते हो, जैसे यहाँ चलते हो। फिर थोड़ा-थोड़ा नीचे उतरते हो। ऐसे नहीं कि वहाँ भी तुमको यह प्रैक्टिस करना है। प्रैक्टिस अभी ही करना है। बैटरी अब चार्ज करना है फिर आहिस्ते-आहिस्ते बैटरी डिसचार्ज होना ही है। बैटरी चार्ज होने का ज्ञान अभी एक ही बार तुमको मिलता है। सतोप्रधान से तमोप्रधान बनने में तुमको कितना समय लग जाता है! शुरू से लेकर कुछ न कुछ बैटरी कम होती जाती है। मूलवतन में तो हैं ही आत्मायें। शरीर तो है नहीं। तो नैचुरल उतरने अर्थात् बैटरी कम होने की बात ही नहीं। मोटर जब चलेगी तब तो बैटरी कम होती जायेगी। मोटर खड़ी होगी तो बैटरी थोड़ेही चालू होगी। मोटर जब चले तब बैटरी चालू होगी। भल मोटर में बैटरी चार्ज़ होती रहती है लेकिन तुम्हारी बैटरी एक ही बार इस समय चार्ज़ होती है। तुम फिर जब यहाँ शरीर से कर्म करते हो फिर थोड़ी बैटरी कम होती जाती है। पहले तो समझाना है कि वह है सुप्रीम फादर, जिसको सब आत्मायें याद करती हैं। हे भगवान कहते हैं, वह बाप है, हम बच्चे हैं। यहाँ तुम बच्चों को समझाया जाता है, बैटरी कैसे चार्ज करनी है। भल घूमो फिरो, बाप को याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। कोई भी बात न समझो तो पूछ सकते हो। है बिल्कुल सहज। 5 हजार वर्ष बाद हमारी बैटरी डिस्चार्ज़ हो जाती है। बाप आकर सबकी बैटरी चार्ज़ कर देते हैं। विनाश के समय सब ईश्वर को याद करते हैं। समझो बाढ़ हुई तो भी जो भक्त होंगे वह भगवान को ही याद करेंगे परन्तु उस समय भगवान की याद आ नहीं सकती। मित्र-सम्बन्धी, धन-दौलत ही याद आ जाता है। भल ‘हे भगवान’ कहते हैं परन्तु वह भी कहने मात्र। भगवान बाप है, हम उनके बच्चे हैं। यह तो जानते ही नहीं। उनको सर्वव्यापी का उल्टा ज्ञान मिलता है। बाप आकर सुल्टा ज्ञान देते हैं। भक्ति की डिपार्टमेंट ही अलग है। भक्ति में ठोकरें खानी होती हैं। ब्रह्मा की रात सो ब्राह्मणों की रात है। ब्रह्मा का दिन सो ब्राह्मणों का दिन है। ऐसा तो नहीं कहेंगे शूद्रों का दिन, शूद्रों की रात। यह राज़ बाप बैठ समझाते हैं। यह है बेहद की रात वा दिन। अभी तुम दिन में जाते हो, रात पूरी होती है। यह अक्षर शास्त्रों में हैं। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात कहते हैं परन्तु जानते नहीं हैं। तुम्हारी बुद्धि अब बेहद में चली गई है। यूं तो देवताओं को भी कह सकते हैं – विष्णु का दिन, विष्णु की रात क्योंकि विष्णु और ब्रह्मा का सम्बन्ध भी समझाया जाता है। त्रिमूर्ति का आक्यूपेशन क्या है – और तो कोई समझ न सके। वह तो भगवान को ही कच्छ-मच्छ में वा जन्म-मरण के चक्र में ले गये हैं। राधे-कृष्ण आदि भी मनुष्य हैं, परन्तु दैवी गुणों वाले। अभी तुमको ऐसा बनना है। दूसरे जन्म में देवता बन जायेंगे। 84 जन्मों का जो हिसाब-किताब था वह अब पूरा हुआ। फिर रिपीट होगा। अब तुमको यह शिक्षा मिल रही है।

बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, अपने को आत्मा निश्चय करो। कहते भी हैं हम पार्टधारी हैं। परन्तु हम आत्मायें ऊपर से कैसे आती हैं – यह नहीं समझते हैं। अपने को देहधारी ही समझ लेते हैं। हम आत्मा ऊपर से आती हैं फिर कब जायेंगी? ऊपर जाना माना मरना, शरीर छोड़ना। मरना कौन चाहते हैं? यहाँ तो बाप ने कहा है – तुम इस शरीर को भूलते जाओ। जीते जी मरना तुमको सिखालाते हैं, जो और कोई सिखला न सके। तुम आये ही हो अपने घर जाने के लिए। घर कैसे जाना है – यह ज्ञान अभी ही मिलता है। तुम्हारा इस मृत्युलोक का यह अन्तिम जन्म है। अमरलोक सतयुग को कहा जाता है। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है – हम जल्दी-जल्दी जावें। पहले-पहले तो घर मुक्तिधाम में जाना पड़ेगा। यह शरीर रूपी कपड़ा यहाँ ही छोड़ना है फिर आत्मा चली जायेगी घर। जैसे हद के नाटक के एक्टर्स होते हैं, नाटक पूरा हुआ तो कपड़े वहाँ ही छोड़कर घर के कपड़े पहन घर में जाते हैं। तुम्हें भी अब यह चोला छोड़ जाना है। सतयुग में तो थोड़े देवतायें होते हैं। यहाँ तो कितने मनुष्य हैं अनगिनत। वहाँ तो होगा ही एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म। अभी तो अपने को हिन्दू कह देते हैं। अपने श्रेष्ठ धर्म-कर्म को भूल गये हैं तब तो दु:खी हुए हैं। सतयुग में तुम्हारा श्रेष्ठ कर्म, धर्म था। अभी कलियुग में धर्म भ्रष्ट हैं। बुद्धि में आता है कि हम कैसे गिरे हैं? अभी तुम बेहद के बाप का परिचय देते हो। बेहद का बाप ही आकर नई दुनिया स्वर्ग रचते हैं। कहते हैं मनमनाभव। यह गीता के ही अक्षर हैं। सहज राजयोग के ज्ञान का नाम रख दिया जाता है गीता। यह तुम्हारी पाठशाला है। बच्चे आकर पढ़ते हैं तो कहेंगे हमारे बाबा की पाठशाला है। जैसे कोई बच्चे का बाप प्रिन्सीपल होगा तो कहेंगे हम अपने बाबा के कॉलेज में पढ़ते हैं। उनकी माँ भी प्रिन्सीपल है तो कहेंगे हमारे माँ-बाप दोनों प्रिन्सीपल हैं। दोनों पढ़ाते हैं। हमारे मम्मा-बाबा का कॉलेज है। तुम कहेंगे हमारे मम्मा-बाबा की पाठशाला है। दोनों ही पढ़ाते हैं। दोनों ने यह रूहानी कॉलेज वा युनिवर्सिटी खोली है। दोनों इकट्ठे पढ़ाते हैं। ब्रह्मा ने एडाप्ट किया है ना। यह बहुत गुह्य ज्ञान की बातें हैं। बाप कोई नई बात नहीं समझाते हैं। यह तो कल्प पहले भी समझानी दी है। हाँ, इतनी नॉलेज है जो दिन-प्रतिदिन गुह्य होती जाती है। आत्मा की समझानी देखो अभी तुमको कैसे मिलती है। इतनी छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। वह कभी विनाश नहीं होता। आत्मा अविनाशी तो उनमें पार्ट भी अविनाशी है। आत्मा ने कानों द्वारा सुना। शरीर है तो पार्ट है। शरीर से आत्मा अलग हो जाती है तो जवाब नहीं मिलता। अभी बाप कहते हैं – बच्चे, तुमको वापिस घर चलना है। यह पुरूषोत्तम युग जब आता है तब ही वापिस जाना होता है, इसमें पवित्रता ही मुख्य चाहिए। शान्तिधाम में तो पवित्र आत्मायें ही रहती हैं। शान्तिधाम और सुखधाम दोनों ही पवित्र धाम हैं। वहाँ शरीर है नहीं। आत्मा पवित्र है, वहाँ बैटरी डिस्चार्ज नहीं होती। यहाँ शरीर धारण करने से मोटर चलती है। मोटर खड़ी होगी तो पेट्रोल कम थोड़ेही होगा। अभी तुम्हारी आत्मा की ज्योत बहुत कम हो गई है। एकदम बुझ नहीं जाती है। जब कोई मरता है तो दीवा जलाते हैं। फिर उसकी बहुत सम्भाल रखते हैं कि बुझ न जाए। आत्मा की ज्योत कभी बुझती नहीं है, वह तो अविनाशी है। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। बाबा जानते हैं कि यह बहुत स्वीट चिल्ड्रेन हैं, यह सब काम चिता पर बैठ जलकर भस्म हो गये हैं। फिर इन्हों को जगाता हूँ। बिल्कुल ही तमोप्रधान मुर्दे बन पड़े हैं। बाप को जानते ही नहीं। मनुष्य कोई काम के नहीं रहे हैं। मनुष्य की मिट्टी कोई काम की नहीं रहती है। ऐसे नहीं कि बड़े आदमी की मिट्टी कोई काम की है, गरीबों की नहीं। मिट्टी तो मिट्टी में मिल जाती है फिर भल कोई भी हो। कोई जलाते हैं, कोई कब्र में बंद कर देते हैं। पारसी लोग कुएं पर रख देते हैं फिर पंछी मास खा लेते हैं। फिर हड्डियाँ जाकर नीचे पड़ती हैं। वह फिर भी काम आती हैं। दुनिया में तो ढेर मनुष्य मरते हैं। अभी तुमको तो आपेही शरीर छोड़ना है। तुम यहाँ आये ही हो शरीर छोड़कर वापिस घर जाने अर्थात् मरने। तुम खुशी से जाते हो कि हम जीवनमुक्ति में जायेंगे।

जिन्होंने जो पार्ट बजाया है, अन्त तक वही बजायेंगे। बाप पुरूषार्थ कराते रहेंगे, साक्षी हो देखते रहेंगे। यह तो समझ की बात है, इसमें डरने की कोई बात नहीं है। हम स्वर्ग में जाने के लिए खुद ही पुरूषार्थ कर शरीर छोड़ देते हैं। बाप को ही याद करते रहना है तो अन्त मती सो गति हो जाए, इसमें मेहनत है। हर एक पढ़ाई में मेहनत है। भगवान को आकर पढ़ाना पड़ता है। जरूर पढ़ाई बड़ी होगी, इसमें दैवीगुण भी चाहिए। यह लक्ष्मी-नारायण बनना है ना। यह सतयुग में थे। अब फिर तुम सतयुगी देवता बनने आये हो। एम ऑबजेक्ट कितनी सहज है। त्रिमूर्ति में क्लीयर है। यह ब्रह्मा, विष्णु, शंकर आदि के चित्र न हों तो हम समझा कैसे सकते। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा। ब्रह्मा की 8 भुजा, 100 भुजा दिखाते हैं क्योंकि ब्रह्मा के कितने ढेर बच्चे होते हैं। तो उन्होंने फिर वह चित्र बना दिया है। बाकी मनुष्य कोई इतनी भुजाओं वाला होता थोड़ेही है। रावण 10 शीश का भी अर्थ है, ऐसा मनुष्य होता नहीं। यह बाप ही बैठ समझाते हैं, मनुष्य तो कुछ भी जानते नहीं। यह भी खेल है, यह कोई को पता नहीं है कि यह कब से शुरू हुआ है। परम्परा कह देते हैं। अरे, वह भी कब से? तो मीठे-मीठे बच्चों को बाप पढ़ाते हैं, वह टीचर भी है तो गुरू भी है। तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए।

यह म्युज़ियम आदि किसके डायरेक्शन से खोलते हैं? यहाँ हैं ही माँ, बाप और बच्चे। ढेर बच्चे हैं। डायरेक्शन पर खोलते रहते हैं। लोग कहते हैं तुम कहते हो भगवानुवाच तो रथ द्वारा हमको भगवान का साक्षात्कार कराओ। अरे, तुमने आत्मा का साक्षात्कार किया है? इतनी छोटी-सी बिन्दु का साक्षात्कार तुम क्या कर सकेंगे! जरूरत ही नहीं है। यह तो आत्मा को जानना होता है। आत्मा भ्रकुटी के बीच रहती है, जिसके आधार पर ही इतना बड़ा शरीर चलता है। अभी तुम्हारे पास न लाइट का, न रत्न जड़ित ताज है। दोनों ताज लेने लिए फिर से तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। कल्प-कल्प तुम बाप से वर्सा लेते हो। बाबा पूछते हैं आगे कब मिले हो? तो कहते हैं – हाँ बाबा, कल्प-कल्प मिलते आये हैं क्यों? यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए। यह सभी एक ही बात बोलेंगे। बाप कहते हैं – अच्छा, शुभ बोलते हो, अब पुरूषार्थ करो। सब तो नर से नारायण नहीं बनेंगे, प्रजा भी तो चाहिए। कथा भी होती है सत्य नारायण की। वो लोग कथा सुनाते हैं, परन्तु बुद्धि में कुछ भी नहीं आता। तुम बच्चे समझते हो वह है शान्तिधाम, निराकारी दुनिया। फिर वहाँ से जायेंगे सुखधाम। सुखधाम में ले जाने वाला एक ही बाप है। तुम कोई को समझाओ, बोलो अभी वापिस घर जायेंगे। आत्मा को अपने घर तो अशरीरी बाप ही ले जायेंगे। अभी बाप आये हैं, उनको जानते नहीं। बाप कहते हैं मैं जिस तन में आया हूँ, उनको भी नहीं जानते। रथ भी तो है ना। हर एक रथ में आत्मा प्रवेश करती है। सबकी आत्मा भ्रकुटी के बीच रहती है। बाप आकर भ्रकुटी के बीच में बैठेगा। समझाते तो बहुत सहज हैं। पतित-पावन तो एक ही बाप है, बाप के सब बच्चे एक समान हैं। उनमें हर एक का अपना-अपना पार्ट है, इसमें कोई इन्टरफियर नहीं कर सकता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस शरीर रूपी कपड़े से ममत्व निकाल जीते जी मरना है अर्थात् अपने सब पुराने हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं।

2) डबल ताजधारी बनने के लिए पढ़ाई की मेहनत करनी है। दैवी गुण धारण करने हैं। जैसा लक्ष्य है, शुभ बोल है, ऐसा पुरूषार्थ करना है।

वरदान:- सिद्धि को स्वीकार करने के बजाए सिद्धि का प्रत्यक्ष सबूत दिखाने वाले शक्तिशाली आत्मा भव
अब आप सबके सिद्धि का प्रत्यक्ष रूप दिखाई देगा। कोई बिगड़ा हुआ कार्य भी आपकी दृष्टि से, आपके सहयोग से सहज हल होगा। कोई सिद्धि के रूप में आप लोग नहीं कहेंगे कि हाँ यह हो जायेगा। लेकिन आपका डायरेक्शन स्वत: सिद्धि प्राप्त कराता रहेगा तब प्रजा जल्दी-जल्दी बनेगी, सब तरफ से निकलकर आपकी तरफ आयेंगे। यह सिद्धि का पार्ट अभी चलेगा लेकिन पहले इतने शक्तिशाली बनो जो सिद्धि को स्वीकार न करो तब प्रत्यक्षता होगी।
स्लोगन:- अव्यक्त स्थिति में स्थित हो मिलन मनाओ तो वरदानों का भण्डार खुल जायेगा।

TODAY MURLI 27 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 26 August 2019:- Click Here

27/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you cannot return home without becoming pure. Therefore, charge the soul’s battery by having remembrance of the Father and become pure naturally.
Question: What does the Father teach you before taking you home?
Answer: Children, before going back home, die alive! This is why Baba makes you practice going beyond the consciousness of your bodies in advance, that is, He teaches you to die alive. To go up above means to die. You have now received the knowledge of coming and going. You souls know that you have come from up above in order to play your parts through those bodies. Originally, we were residents of that place and we now have to return there.

Om shanti. There is no difficulty in considering yourself to be a soul and remembering the Father. You mustn’t choke on that. This is called easy remembrance. First of all, each of you has to consider yourself to be a soul. It is a soul that adopts a body and plays a part. All the sanskars remain in the soul. The soul is independent. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. Only at this time do you receive this knowledge; you will not receive it again. The world doesn’t know you are sitting in peace. This is called natural peace. We souls came from up above to play our parts through bodies. We souls were originally residents of that place. This knowledge is in your intellects. There is no question of hatha yoga etc. in this. This is very easy. We souls now have to go back home, but we cannot go there without becoming pure. In order to become pure you have to remember the Father, the Supreme Soul. Your sins will be erased by remembering Him. There is no question of difficulty. When you go for a walk, stay in remembrance of the Father. It is only now that you can become pure by having remembrance. There, it is the pure world. There, in that pure world, there is no need for this knowledge because there are no sinful acts performed there. It is here that sins have to be absolved by having remembrance. There, you do everything naturally as you do here. Then, you come down, little by little. It isn’t that you also have to have this practice there. It is now that you have to have this practice. The battery has to be charged now, and it will then gradually definitely be discharged. Only once, at this time, do you receive the knowledge of how to charge your batteries. How long it takes you to become tamopradhan from satopradhan! From the beginning, the batteries continue to decrease a little at a time. There are just souls in the incorporeal world. There are no bodies there. So, there is no question there of the battery coming down naturallyor the charge decreasing. It is only when the motor car goes that the battery begins to discharge. When the motor car is just standing, the battery does not work. The battery would start when the motor car goes. In a motor car, the battery continues to be charged, but your batteries are only charged once, at this time. Then, when you begin to acts through your bodies, the batteries decrease a little. First of all, explain that He is the Supreme Father, the One whom all souls remember. They say: Oh God! He is the Father and we are the children. Here, it is explained to you children how your batteries have to be charged. You can tour around and remember the Father and you will become satopradhan. If you don’t understand anything, you can ask. It is very easy. Our batteries discharge every 5000 years. The Father comes and chargeseveryone’s battery. Everyone remembers God at the time of destruction. For instance, when there is a flood, all devotees try to remember God. However, at that time, they will not be able to have remembrance of God. It would only be friends and relatives, wealth and property that are remembered. Although they say, “Oh God!” That is just for the sake of saying it. God is the Father and we are His children. They don’t know this at all. They receive the incorrect knowledge of omnipresence. The Father comes and gives you correct knowledge. The department of devotion is completely separate. They have to stumble along on the path of devotion. The night of Brahma is the night of Brahmins. The day of Brahma is the day of Brahmins. It would not be said: The day of shudras and the night of shudras. The Father sits here and explains these secrets. This is the unlimited night and day. The night is now coming to an end and you are going into the day. These words are mentioned in the scriptures. They speak of the day of Brahma and the night of Brahma, but they do not know anything. Your intellects have now gone into the unlimited. In fact, you can say of the deities: The day of Vishnu and the night of Vishnu because the relationship between Brahma and Vishnu is explained to you. No one else can understand what the occupation of the Trimurti is. They have put God into a fish and a crocodile and into the cycle of birth and death. Radhe and Krishna etc. are also human beings, but they have divine virtues. You now have to become like them. You will then become deities in your next birth. There was the account of 84 births, but that has now finished. It will now repeat. You are now receiving these teachings. The Father says: Sweetest children, have the faith that you are souls. They say that they are actors, but they don’t understand how souls come down from up above. They consider themselves to be bodily beings. We souls come from up above, but when shall we go back again? To go up above means to die, to shed your body. Who wants to die? The Father has said: Simply continue to forget your bodies. He teaches you how to die alive. No one else can teach you this. You have come here to go to your home. It is only now that you receive the knowledge of how to go back home. This is your final birth in the land of death. The golden age is called the land of immortality. It is now in the intellects of you children that you have to go back home quickly. First of all, you have to go to your home, the land of liberation. It is here that you have to shed the costume of that body and then the soul will go back home. When a limited play ends, the actors take off their costumes, leave them there and put on the clothes they wear at home and go back home. In the same way, you, too, now have to shed those costumes and return home. There are very few deities in the golden age. Here, there are countless human beings. There, there would just be the one original, eternal, deity religion. They now call themselves Hindus. They have forgotten their elevated religion and acts and this is why they have become unhappy. In the golden age, your religion and actions were elevated. Now, in the iron age, your religion has become corrupt. Does it enter your intellects how you have fallen? You now give the introduction of the unlimited Father. The unlimited Father comes and creates the new world, heaven. He says: Manmanabhav! These words are from the Gita. The name given to the knowledge of easy Raj Yoga is the Gita. This is your school. When children come and study here, they say: It is the school of our Baba. For instance, the child of a principal would say: I am studying in my father’s college. If his mother is also a principal, he would say: Both my mother and father are principals. Both of them are teaching. It is the college of my mother and father. You would say: This is the school of our Mama and Baba. Both of them are teaching. Both of them have opened this spiritual college or university. Both of them are teaching at the same time. Brahma has adopted you. These are very deep matters of knowledge. The Father is not explaining anything new to you. He also gave you this explanation in the previous cycle. Yes, there is so much knowledge and it continues to become deeper day by day. Look how you receive the explanation of souls. Such a tiny soul has a part of 84 births recorded in him. It is never destroyed. A soul is imperishable and so the part within him is also imperishable. A soul hears through the ears. When there is a body there is a part. When a soul separates from his body, you cannot get a response. The Father now says: Children, you now have to return home. When this most auspicious confluence age comes, you have to return home. Purity is the main thing that is needed. Only pure souls reside in the land of peace. The land of peace and the land of happiness are both pure lands. There are no bodies there. Souls are pure. No one’s battery discharges there. When you adopt a body here, the motor begins to work. When a motor car is standing still, the petrol does not reduce. The lights of you souls have now become very dim; they haven’t gone completely out. When a person dies, people ignite an earthenware lamp, and they look after it very carefully so that it doesn’t go out. The light of a soul never goes out completely; it is imperishable. The Father sits here and explains all of these things. Baba knows that you are very sweet children and that you have been burnt by sitting on the pyre of lust. I am awakening you again. You became completely tamopradhan corpses. You didn’t know the Father at all. Human beings are of no use at all. The ashes of human beings are of no use. It isn’t that the ashes of important people are useful whereas those of poor people aren’t. Everything gets mixed: ashes to ashes and dust to dust, no matter who it is. Some people have cremation ceremonies whereas others have burials. Parsis keep the corpses on a tower over a well and the birds come and eat the flesh. The bones then fall into the well. That is at least useful. So many people in the world die. You now have to shed your bodies automatically. You have come here to shed your bodies and return home, that is, you have come here to die. You go in happiness because you are going to the land of liberation-in-life. Whatever part each one of you has played, you will play that same part till the end. The Father will continue to inspire you to make effort and will continue to watch as the detached Observer. This is a matter of understanding. There is no question of being afraid in this. We ourselves are making effort to shed our bodies in order to go to heaven. You simply have to continue to remember the Father and your final thoughts will then lead you to your destination. This requires effort. Effort is needed in every study. God has to come to teach you, so the study must definitely be a great one. Divine virtues are needed here. You have to become Lakshmi and Narayan. They existed in the golden age. You have come here to become golden-aged deities once again. The aim and objective is so easy! The Trimurti is also clear. How could you explain if you didn’t have the pictures of Brahma, Vishnu and Shankar? Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. They show eight arms of Brahma and 100 arms of Brahma because Brahma has so many children. So, they have made those pictures. However, it isn’t that there are human beings with so many arms. Ravan with ten heads is also symbolic; there is no human being like that. The Father sits here and explains this. People do not know anything. This is also a play. No one knows when this began. They say that it has existed from time immemorial. Ah! But when was that? The Father teaches you sweetest children. He is the Teacher and also the Guru. So, you children should have so much happiness. On whose directions are these museums etc. opened? Here, there is just the mother, the Father and the children. There are so many children. Centres continue to be opened according to directions. People say: You say that God speaks through a chariot, so grant us a vision! Ah! But have you had a vision of a soul? How would you be able to have a vision of such a tiny point? There is no need for it. It is just a matter of knowing about souls. A soul resides in the centre of the forehead and such a big body functions on that basis. You now neither have a crown of light nor a jewel-studded crown. You are once again making effort to claim both crowns. You claim the inheritance from the Father every cycle. Baba asks you: Have we met before? You say: Yes, Baba. We have been meeting every cycle. Why? To become Lakshmi and Narayan. Everyone would say the same thing. The Father says: Achcha, since you say auspicious things, now make effort! Not everyone will become Narayan from an ordinary man. Subjects are also needed. There is the story of the true Narayan. Those people relate that story, but nothing enters their intellects. You children understand that that is the land of peace, the incorporeal world. From there, you will go to the land of happiness. It is only the one Father who takes you to the land of happiness. Explain to anyone and tell him: We are now to return home. Only the bodiless Father will take all souls home. The Father has now come, but they don’t know Him. The Father says: They don’t even know the one whose body I enter. There is the chariot too. Every soul enters a chariot. The soul of everyone resides in the centre of his or her forehead. The Father comes and sits in the centre of this forehead. He explains very easily. Only the one Father is the Purifier. All the children of the Father are the same and each one has his own part. No one can interfere with this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove your attachment from that costume, the body, and die alive! That is, settle all your past karmic accounts!
  2. In order to become double crowned, make effort to study and imbibe divine virtues. Make effort according to your aim and your auspicious words.
Blessing: May you become such a powerful soul that instead of accepting success, you show the practical proof of success.
The practical form of success of all of you will now become visible. Any task that has been spoilt will easily be put right with your drishti and your co-operation. You will not say for success, “Yes, it will happen!” but your directions will enable success to be attained and subjects will then be quickly created. People will emerge from all directions and come to you. This part of success will now be played out but you first have to become so powerful that you do not accept that success. Revelation will then take place.
Slogan: Celebrate a meeting while remaining stable in the avyakt stage and the treasure-store of blessings will open.

*** Om Shanti ***

Font Resize