daily murli 26 november

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 November 2020

26/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to reform your character, stay on the pilgrimage of remembrance. It is having remembrance of the Father that will make you one hundred times constantly fortunate.
Question: At what time can you truly recognise your stage? What would you call a good stage?
Answer: You are able to recognise your stage at a time of illness. Even when you are ill, if you remain happy and your cheerful face continues to remind everyone of the Father, that is a good stage. If you cry and remain unhappy, how could you make others cheerful? No matter what happens, you mustn’t cry.

Om shanti. Two expressions are remembered: Unfortunate and one hundred times fortunate. When someone’s fortune is lost, he is said to be unfortunate. When a woman’s husband dies, she too is called unfortunate; she is left alone. You now understand that you are becoming one hundred times fortunate for all time. There is no question of sorrow there; there is no mention of death there. The name “widow” doesn’t exist there. A widow experiences sorrow and continues to cry. Although someone may be a sage or a holy man, it doesn’t mean that he doesn’t experience sorrow. Some go crazy; some become ill or diseased. This is the world of disease. The golden age is a world that is free from disease. You children understand that you are once again making Bharat free from disease by following shrimat. At present, people’s characters are very bad. There must definitely be a department to reform their characters. A register of students is kept at school. Their characters can be seen from that. This is why Baba also had a register kept. Each one of you should keep your own register. Check your character to see that you are not making any mistakes. The first thing is to remember the Father. It is through this that your character will be reformed. It is by having remembrance of the One that your lifespan becomes long. These are jewels of knowledge. Remembrance is not said to be a jewel. It is by having remembrance that your character is reformed. No one, apart from you, can explain the cycle of 84 births. It is with this cycle that you have to explain about Brahma and Vishnu; you cannot speak of the character of Shankar. You children know what the connection between Brahma and Vishnu is. The dual-form of Vishnu is Lakshmi and Narayan. They then take 84 births. It is in their 84 births that they become worthy of worship and worshippers. Prajapita Brahma definitely has to exist here. An ordinary body is needed. Generally, it is this that confuses people. Brahma is the chariot of the Purifier Father. It is said: The Resident of the faraway land has come to the foreign land. The Purifier Father who creates the pure world has come into the impure world. There cannot be a single pure human being in the impure world. You children now understand how you take 84 births. Someone must definitely take that. Only those who come at the beginning take 84 births. In the golden age there are only deities. Human beings don’t think at all about who takes 84 births. This is something that has to be understood. Everyone believes in rebirth. It has to be explained with great tact that there are 84 rebirths. Not everyone will take 84 births. It isn’t that everyone will come together and shed their bodies together. (In the Gita) It says: God speaks: You don’t know your own births; only God sits and explains this. You souls take 84 births. The Father sits here and tells you children the story of 84 births. This is like a study. It is very easy to know the cycle of 84 births. Those of other religions won’t understand these things. Among you too, not everyone will take 84 births. If everyone were to take 84 births, all of you would come down together; that is not possible. Everything depends on how you study and have remembrance. Within that, remembrance isnumber one. You receive more marks in a difficult subject. It creates an impact. There are the highest, the middle and the lowest subjects. Here, there are two main subjects. The Father says: Remember Me and you will become completely viceless and will then be threaded in the rosary of victory. This is a race. First of all, look at yourself to see to what extent you are imbibing this. How much do I stay in remembrance? What is my character like? If I have the habit of crying, how would I be able to make others cheerful? Baba says: Those who cry lose out. No matter what happens, there is no need to cry. Even in illness, you can at least say this much in happiness: Consider yourself to be a soul and remember the Father. Only at a time of illness does it become evident what stage you have reached. In times of difficulty, you may groan a little but you still have to consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father has given the message. Shiv Baba alone is the Messenger; no one else can be this. Everything else that others relate are all stories of the path of devotion. All the things of this world are perishable. I am now taking you to a place where nothing breaks. There, everything is so well made that there is no mention of anything breaking. Here, so many things are invented through scienceScience will definitely exist there too because you need to have a lot of comfort. The Father says: You children did not know anything: how much sorrow you experienced when the path of devotion began – all of these things are now in your intellects. Deities are said to be full of all virtues. Now, no degrees remain. How did their degrees decrease? The degrees of the moon also gradually decrease. You know that when this world is first new, everything is satopradhan and first-class. Then, as it becomes old, its degrees decrease. Lakshmi and Narayan are full of all virtues. The Father is now telling you the true story of the true Narayan. It is now the night and it will then be the day. You are becoming perfect and such a world is required for you. Even the five elements become satopradhan (16 celestial degrees full). This is why your bodies there are naturally beautiful; they are satopradhan. The whole world becomes 16 celestial degrees full. Now there are no degrees. It is not in the fortune of all the eminent people or the great souls etc. to have knowledge of the Father; they have their own pride. Generally, this is said to be in the fortune of the poor. Some say: The Father is so high that He should enter the body of a great king or a pure rishi. Only the sannyasis are pure. He could also enter the body of a pure kumari. The Father sits here and explains whom He enters. I enter the one who takes the full 84 births. There cannot be even one day less. On the day Krishna is born, he is 16 celestial degrees full. Then he goes through the stages of sato, rajo and tamo. Everything is at first satopradhan and it then becomes sato, rajo and tamo. It is the same in the golden age. A child is satopradhan at first and then, when he grows old, he says that he is now going to leave that body and become a satopradhan child. You children don’t have that much intoxication; the mercury of happiness just doesn’t rise. The mercury of happiness of those who make good efforts continues to rise. Their faces remain very happy and cheerful. As you progress further, you will continue to have visions. As you come closer to your home, you remember your home, family and buildings etc. It is the same here. While making effort, as your reward comes closer, you will continue to have many visions; you will remain happy. Those who fail drown themselves because of being ashamed. Baba will also tell you everything and you will then have to repent a great deal. You will have visions of your future and what you are to become. Baba will show you the bad actions you performed: You didn’t study fully and became a traitor and, therefore, this is your punishment. You will have visions of everything. How could He give punishment without giving visions? In a court too, they tell you what you did and what your punishment is going to be for that. Until you reach the karmateet stage, one sign or another will remain. When you souls become pure, you will have to shed your bodies; you can no longer stay here. You have to reach that stage. You are now making preparations to return home and then come into the new world. Your efforts are to go home quickly and then come down here quickly. Children are made to race. They are told to touch their goal and come back. You too have to go there quickly and then go into the new world in the first number. So, this is your race. They have races at schools. This is your family path. At first you had a pure household religion. Now, the world is vicious and it will then become viceless. If you continue to churn these things you will remain very happy. We claim the kingdom and then we lose it. People speak of the hero and heroine. You take a birth as valuable as a diamond and then you go into a birth that is like a shell. Now the Father says: Don’t waste your time chasing after shells. This one says: I too used to waste my time. He also told me: Now belong to Me and do this spiritual business. So, I instantly left everything. No one would throw money away. Money is useful. You can’t get buildings etc. without money. As you make further progress, many very wealthy people will come; they will continue to help you. One day, you will have to go and give lectures at big colleges and universities and tell them how the world cycle turns. History repeats from the beginning to the end. We can tell you the history and geography of the world from the golden age to the iron age. You can explain to them a lot about character. Praise Lakshmi and Narayan. Bharat was so pure; people had divine characters. Now they have vicious characters. The cycle will definitely repeat again. We can tell you the history and geography of the world. Those who are very good should go there. For instance, there is the Theosophical Society; you should go and give a lecture there. Krishna was a deity and he existed in the golden age. First of all, there is Shri Krishna and then he becomes Narayan. Now we will tell you the story of the 84 births of Shri Krishna, which no one else can tell you. This topic is very big. Those who are clever should go and give lectures. It now enters your hearts that you will become the masters of the world, and so there should be so much happiness. Sit and chant this internally and you will not like anything of this old world. You come here to become the masters of the world through the Supreme Father, the Supreme Soul. This world is called “Vishwa”. Neither the region of brahm nor the subtle region can be called a world. The Father says: I don’t become the Master of the world. I make you children the masters of the world. These are such deep matters. I make you into the masters of the world. Then, you become the slaves of Maya. When you sit in front of people and make them sit in yoga, you should remind them: Sit in soul consciousness and remember the Father. Then, tell them the same thing again after five minutes. You have yoga programmes. The intellects of many wander outside and you therefore have to caution them every five to ten minutes: Are you sitting here while considering yourselves to be souls? Are you remembering the Father? Your own attention will also then be maintained. Baba tells you all these different methods. Caution yourself again and again. Are you sitting in remembrance of Shiv Baba while considering yourself to be a soul? Those whose intellects’ yoga is wandering elsewhere will then become alert. Remind them of this again and again. It is only by having remembrance of Baba that you will be able to go across. People sing: Hey Boatman, take my boat across! However, they don’t understand the meaning of that. You have been performing devotion for half the cycle in order to go to the land of liberation. The Father says: Now remember Me and you will go to the land of liberation. You sit here to have your sins cut away and so you mustn’t commit any more sins. Otherwise, the sins will still remain. The number one effort is to consider yourself to be a soul and remember the Father. By cautioning others in this way, you too will be able to pay attention. You also have to caution yourself. Only when you stay in remembrance yourself can you inspire others to sit in remembrance. I am a soul and I am going home. Then I will come and rule here. To consider yourself to be a body is a severe disease. This is why everyone is now in the depths of hell. Therefore, you have to salvage them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Use your time in a worthwhile way by doing spiritual business. Make your life as valuable as a diamond. Continue to caution yourself. Make effort to save yourself from the severe illness of considering yourself to be a body.
  2. Never become Maya’s slave. Sit and internally chant, “I am a soul”. Maintain the happiness that you are changing from a beggar to a prince.
Blessing: May you be greatly fortunate and experience the subtle region or the three worlds with the power of being viceless.
The fortunate children who have the power of being viceless and whose yoga of the intellect is absolutely refined, are easily able to travel around the three worlds. In order to make your thoughts reach the subtle region, you need to have refined remembrance of the essence of all relationships. This is the most powerful wire and Maya cannot interfere in this. So, in order to experience the splendour of the subtle region, fill yourself with the power of being viceless.
Slogan: To be attracted to any person, object or material comfort is to divorce the Father, your Companion, in your mind.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपने कैरेक्टर्स सुधारने के लिए याद की यात्रा में रहना है, बाप की याद ही तुम्हें सदा सौभाग्यशाली बनायेगी”
प्रश्नः- अवस्था की परख किस समय होती है? अच्छी अवस्था किसकी कहेंगे?
उत्तर:- अवस्था की परख बीमारी के समय होती है। बीमारी में भी खुशी बनी रहे और खुशमिज़ाज़ चेहरे से सबको बाप की याद दिलाते रहो, यही है अच्छी अवस्था। अगर खुद रोयेंगे, उदास होंगे तो दूसरों को खुशमिज़ाज़ कैसे बनायेंगे? कुछ भी हो जाए – रोना नहीं है।

ओम् शान्ति। दो अक्षर गाये जाते हैं – दुर्भाग्यशाली और सौभाग्यशाली। सौभाग्य चला जाता है तो दुर्भाग्य कहा जाता है। स्त्री का पति मर जाता है तो वह भी दुर्भाग्य कहा जाता है। अकेली हो जाती है। अभी तुम जानते हो हम सदा के लिए सौभाग्यशाली बनते हैं। वहाँ दु:ख की बात नहीं। मृत्यु का नाम नहीं होता है। विधवा नाम ही नहीं होता। विधवा को दु:ख होता है, रोती रहती है। भल साधू-सन्त हैं, ऐसा नहीं कि उन्हें कोई दु:ख नहीं होता है। कोई पागल बन पड़ते हैं, बीमार रोगी भी होते हैं। यह है ही रोगी दुनिया। सतयुग है निरोगी दुनिया। तुम बच्चे समझते हो हम भारत को फिर से श्रीमत पर निरोगी बनाते हैं। इस समय मनुष्यों के कैरेक्टर्स बहुत खराब हैं। अब कैरेक्टर्स सुधारने की भी जरूर डिपार्टमेंट होगी। स्कूलों में भी स्टूडेण्ट्स का रजिस्टर रखा जाता है। उनके कैरेक्टर्स का पता चलता है इसलिए बाबा ने भी रजिस्टर रखवाया था। हर एक अपना रजिस्टर रखो। कैरेक्टर देखना है कि हम कोई भूल तो नहीं करते हैं। पहली बात तो बाप को याद करना है। उनसे ही तुम्हारा कैरेक्टर्स सुधरता है। आयु भी बड़ी होती है एक की याद से। यह तो हैं ज्ञान रत्न। याद को रत्न नहीं कहा जाता। याद से ही तुम्हारे कैरेक्टर सुधरते हैं। यह 84 जन्मों का चक्र तुम्हारे सिवाए और कोई समझा न सके। इस पर ही समझाना है – विष्णु और ब्रह्मा। शंकर के तो कैरेक्टर नहीं कहेंगे। तुम बच्चे जानते हो ब्रह्मा और विष्णु का आपस में क्या कनेक्शन है। विष्णु के दो रूप हैं यह लक्ष्मी-नारायण। वही फिर 84 जन्म लेते हैं। 84 जन्मों में आपेही पूज्य और आपेही पुजारी बनते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर यहाँ ही चाहिए ना। साधारण तन चाहिए। बहुत करके इसमें ही मूँझते हैं। ब्रह्मा तो है ही पतित-पावन बाप का रथ। कहते भी हैं – दूरदेश का रहने वाला आया देश पराये…….. पावन दुनिया बनाने वाला पतित-पावन बाप पतित दुनिया में आया। पतित दुनिया में एक भी पावन नहीं हो सकता। अभी तुम बच्चों ने समझा है कि 84 जन्म हम कैसे लेते हैं। कोई तो लेते होंगे ना। जो पहले-पहले आते होंगे उनके ही 84 जन्म होंगे। सतयुग में देवी-देवता ही आते हैं। मनुष्यों का ज़रा भी ख्याल नहीं चलता, 84 जन्म कौन लेंगे। समझ की बात है। पुनर्जन्म तो सब मानते हैं। 84 पुनर्जन्म हुए यह बड़ी युक्ति से समझाना है। 84 जन्म तो सभी नहीं लेंगे ना। एक साथ सब थोड़ेही आयेंगे और शरीर छोड़ेंगे। भगवानुवाच भी है कि तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, भगवान ही बैठ समझाते हैं। तुम आत्मायें 84 जन्म लेती हो। यह 84 की कहानी बाप तुम बच्चों को बैठ सुनाते हैं। यह भी एक पढ़ाई है। 84 का चक्र तो जानना बहुत सहज है। दूसरे धर्म वाले इन बातों को समझेंगे नहीं। तुम्हारे में भी कोई सभी 84 जन्म नहीं लेते हैं। सभी के 84 जन्म हों तो सब इकट्ठे आ जाएं। यह भी नहीं होता है। सारा मदार पढ़ाई और याद पर है। उसमें भी नम्बरवन है याद। डिफीकल्ट सब्जेक्ट पर मार्क्स जास्ती मिलती हैं। उनका प्रभाव भी होता है। उत्तम, मध्यम, कनिष्ट सब्जेक्ट होती हैं ना। इनमें हैं दो मुख्य। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो सम्पूर्ण निर्विकारी बन जायेंगे और फिर विजय माला में पिरो जायेंगे। यह है रेस। पहले तो खुद को देखना है कि मैं कहाँ तक धारणा करता हूँ? कितना याद करता हूँ? मेरे कैरेक्टर्स कैसे हैं? अगर मेरे में ही रोने की आदत है तो दूसरे को खुशमिज़ाज़ कैसे बना सकता हूँ? बाबा कहते हैं जो रोते हैं सो खोते हैं। कुछ भी हो जाए लेकिन रोने की दरकार नहीं है। बीमारी में भी खुशी से इतना तो कह सकते हो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बीमारी में ही अवस्था की परख होती है। तकलीफ में थोड़ा कुड़कने की आवाज़ भल निकलती है परन्तु अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाप ने पैगाम दिया है। पैगम्बर-मैसेन्जर एक शिवबाबा है, दूसरा कोई है नहीं। बाकी जो भी सुनाते हैं, सारी भक्ति मार्ग की बातें। इस दुनिया की जो भी चीज़ें हैं सब विनाशी हैं, अभी तुमको वहाँ ले जाते हैं जहाँ टूट-फूट नहीं। वहाँ तो चीज़ें ही ऐसी अच्छी बनेंगी जो टूटने का नाम ही नहीं होगा। यहाँ साइन्स से कितनी चीज़ें बनती हैं, वहाँ भी तो साइंस जरूर होगी क्योंकि तुम्हारे लिए बहुत सुख चाहिए। बाप कहते हैं तुम बच्चों को कुछ भी पता नहीं था। भक्ति मार्ग कब शुरू हुआ, कितना तुमने दु:ख देखा – यह सब बातें अभी तुम्हारी बुद्धि में हैं। देवताओं को कहा ही जाता है – सर्वगुण सम्पन्न……. फिर वह कलायें कैसे कम हुई? अभी तो कोई कला नहीं रही है। चन्द्रमा की भी धीरे-धीरे कला कम होती है ना।

तुम जानते हो कि यह दुनिया भी पहले नई है तो वहाँ हर चीज़ सतोप्रधान फर्स्टक्लास होती है। फिर पुरानी होते कलायें कम होती जाती हैं। सर्वगुण सम्पन्न यह लक्ष्मी-नारायण हैं ना। अभी बाप तुमको सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा सुना रहे हैं। अभी है रात फिर दिन होता है। तुम सम्पूर्ण बनते हो तो तुम्हारे लिए फिर सृष्टि भी ऐसी ही चाहिए। 5 तत्व भी सतोप्रधान (16 कला सम्पूर्ण) बन जाते हैं इसलिए शरीर भी तुम्हारे नेचुरल ब्युटीफुल होते हैं। सतोप्रधान होते हैं। यह सारी दुनिया 16 कला सम्पूर्ण बन जाती है। अभी तो कोई कला नहीं है, जो भी बड़े से बड़े लोग हैं अथवा महात्मा आदि हैं, यह बाप की नॉलेज उनकी तकदीर में ही नहीं है। उन्हों को अपना ही घमण्ड है। बहुत करके है ही गरीबों की तकदीर में। कोई कहते हैं इतना ऊंच बाप है, उनको तो कोई बड़े राजा अथवा पवित्र ऋषि आदि के तन में आना चाहिए। पवित्र होते ही हैं संन्यासी। पवित्र कन्या के तन में आये। बाप बैठ समझाते हैं मैं किसमें आता हूँ। मैं आता ही उसमें हूँ जो पूरे 84 जन्म लेते हैं। एक दिन भी कम नहीं। कृष्ण पैदा हुआ उस समय से 16 कला सम्पूर्ण ठहरा। फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। हर चीज़ पहले सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में आती है। सतयुग में भी ऐसा होता है। बच्चा सतोप्रधान है फिर बड़ा होगा तो कहेगा अब हम यह शरीर छोड़ सतोप्रधान बच्चा बनता हूँ। तुम बच्चों को इतना नशा नहीं है। खुशी का पारा नहीं चढ़ता है। जो अच्छी मेहनत करते हैं, खुशी का पारा चढ़ता रहता है। शक्ल भी खुशनुम: रहती है। आगे चल तुमको साक्षात्कार होते रहेंगे। जैसे घर के नज़दीक आकर पहुँचते हैं तो फिर वह घरबार मकान आदि याद आता है ना। यह भी ऐसे है। पुरूषार्थ करते-करते तुम्हारी प्रालब्ध जब नज़दीक होगी तो फिर बहुत साक्षात्कार होते रहेंगे। खुशी में रहेंगे। जो नापास होते हैं तो शर्म के मारे डूब मरते हैं। तुमको भी बाबा बता देते हैं फिर बहुत पछताना पड़ेगा। अपने भविष्य का साक्षात्कार करेंगे, हम क्या बनेंगे? बाबा दिखलायेंगे यह-यह विकर्म आदि किये हैं। पूरा पढ़े नहीं, ट्रेटर बनें, इसलिए यह सज़ा मिलती है। सब साक्षात्कार होगा। बिगर साक्षात्कार सज़ा कैसे देंगे? कोर्ट में भी बताते हैं – तुमने यह-यह किया है, उसकी सज़ा है। जब तक कर्मातीत अवस्था हो जाए तब तक कुछ न कुछ निशानी रहेगी। आत्मा पवित्र हो जाती है फिर तो शरीर छोड़ना पड़े। यहाँ रह न सकें। वह अवस्था तुमको धारण करनी है। अभी तुम वापिस जाए फिर नई दुनिया में आने के लिए तैयारी करते हो। तुम्हारा पुरूषार्थ ही यह है कि हम जल्दी-जल्दी जायें, फिर जल्दी-जल्दी आयें। जैसे बच्चों को खेल में दौड़ाते हैं ना। निशान तक जाकर फिर लौट आना है। तुमको भी जल्दी-जल्दी जाना है, फिर पहले नम्बर में नई दुनिया में आना है। तो तुम्हारी रेस है यह। स्कूल में भी रेस कराते हैं ना। तुम्हारा है यह प्रवृत्ति मार्ग। तुम्हारा पहले-पहले पवित्र गृहस्थ धर्म था। अभी है विशश फिर वाइसलेस वर्ल्ड बनेगा। इन बातों को तुम सिमरण करते रहो तो भी बहुत खुशी रहेगी। हम ही राज्य लेते हैं फिर गॅवाते हैं। हीरो-हीरोइन कहते हैं ना। हीरे जैसा जन्म लेकर फिर कौड़ी जैसे जन्म में आते हैं।

अभी बाप कहते हैं – तुम कौड़ियों पिछाड़ी टाइम वेस्ट मत करो। यह कहते हैं हम भी टाइम वेस्ट करते थे। तो हमको भी कहा अब तो तुम मेरा बनकर यह रूहानी धंधा करो। तो झट सब कुछ छोड़ दिया। पैसे कोई फेंक तो नहीं देंगे। पैसे तो काम में आते हैं। पैसे बिना कोई मकान आदि थोड़ेही मिल सकता। आगे चल बड़े-बड़े धनवान आयेंगे। तुमको मदद देते रहेंगे। एक दिन तुमको बड़े-बड़े कॉलेज, युनिवर्सिटी में भी जाकर भाषण करना होगा कि यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। हिस्ट्री रिपीट होती है आदि से अन्त तक। गोल्डन एज से आइरन एज तक सृष्टि की हिस्ट्री-जॉग्राफी हम बता सकते हैं। कैरेक्टर्स के ऊपर तो तुम बहुत समझा सकते हो। इन लक्ष्मी-नारायण की महिमा करो। भारत कितना पावन था, दैवी कैरेक्टर्स थे। अब तो विशश कैरेक्टर्स हैं। जरूर फिर चक्र रिपीट होगा। हम वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुना सकते हैं। वहाँ जाना भी अच्छे-अच्छे को चाहिए। जैसे थियोसोफिकल सोसायटी है, वहाँ तुम भाषण करो। कृष्ण तो देवता था, सतयुग में था। पहले-पहले है श्रीकृष्ण जो फिर नारायण बनते हैं। हम आपको श्रीकृष्ण के 84 जन्मों की कहानी सुनायें, जो और कोई सुना न सके। यह टॉपिक कितनी बड़ी है। होशियार को भाषण करना चाहिए।

अभी तुम्हारे दिल में आता है, हम विश्व के मालिक बनेंगे, कितनी खुशी होनी चाहिए। अन्दर बैठ यह जाप जपो फिर तुमको इस दुनिया में कुछ भासेगा नहीं। यहाँ तुम आते ही हो – विश्व का मालिक बनने – परमपिता परमात्मा द्वारा। विश्व तो इस दुनिया को ही कहा जाता है। ब्रह्मलोक वा सूक्ष्मवतन को विश्व नहीं कहेंगे। बाप कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। इस विश्व का मालिक तुम बच्चों को बनाता हूँ। कितनी गुह्य बातें हैं। तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। फिर तुम माया के दास बन जाते हो। यहाँ जब सामने योग में बिठाते हो तो भी याद दिलानी है – आत्म-अभिमानी हो बैठो, बाप को याद करो। 5 मिनट बाद फिर बोलो। तुम्हारे योग के प्रोग्राम चलते हैं ना। बहुतों की बुद्धि बाहर चली जाती है इसलिए 5-10 मिनट बाद फिर सावधान करना चाहिए। अपने को आत्मा समझ बैठे हो? बाप को याद करते हो? तो खुद का भी अटेन्शन रहेगा। बाबा यह सब युक्तियां बतलाते हैं। घड़ी-घड़ी सावधान करो। अपने को आत्मा समझ शिवाबाबा की याद में बैठे हो? तो जिनका बुद्धियोग भटकता होगा वह खड़े हो जायेंगे। घड़ी-घड़ी यह याद दिलाना चाहिए। बाबा की याद से ही तुम उस पार चले जायेंगे। गाते भी हैं खिवैया, नईया मेरी पार लगाओ। परन्तु अर्थ को नहीं जानते। मुक्तिधाम में जाने के लिए आधाकल्प भक्ति की है। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो मुक्तिधाम में चले जायेंगे। तुम बैठते ही हो पाप कटने लिए तो फिर पाप करने थोड़ेही चाहिए। नहीं तो फिर पाप रह जायेंगे। नम्बरवन यह पुरूषार्थ है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। ऐसे सावधान करते रहने से अपना भी अटेन्शन रहेगा। खुद को भी सावधान करना है। खुद भी याद में बैठे तब औरों को बिठायें। हम आत्मा हैं, जाते हैं अपने घर। फिर आकर राज्य करेंगे। अपने को शरीर समझना-यह भी एक कड़ी बीमारी है इसलिए ही सब रसातल में चले गये हैं। उनको फिर सैलवेज करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना टाइम रूहानी धन्धे में सफल करना है। हीरे जैसा जीवन बनाना है। अपने को सावधान करते रहना है। शरीर समझने की कड़ी बीमारी से बचने का पुरुषार्थ करना है।

2) कभी भी माया का दास नहीं बनना है, अन्दर में बैठ जाप जपना है कि हम आत्मा हैं। खुशी रहे हम बेगर से प्रिन्स बन रहे है।

वरदान:- वाइसलेस की शक्ति द्वारा सूक्ष्मवतन वा तीनों लोकों का अनुभव करने वाले श्रेष्ठ भाग्यवान भव
जिन बच्चों के पास वाइसलेस की शक्ति है, बुद्धियोग बिल्कुल रिफाइन है-ऐसे भाग्यवान बच्चे सहज ही तीनों लोकों का सैर कर सकते हैं। सूक्ष्मवतन तक अपने संकल्प पहुंचाने के लिए सर्व सम्बन्धों के सार वाली महीन याद चाहिए। यही सबसे पावरफुल तार है, इसके बीच में माया इन्टरफियर नहीं कर सकती है। तो सूक्ष्मवतन की रौनक का अनुभव करने के लिए स्वयं को वाइसलेस की शक्ति से सम्पन्न बनाओ।
स्लोगन:- किसी व्यक्ति, वस्तु व वैभव के प्रति आकर्षित होना ही कम्पैनियन बाप को संकल्प से तलाक देना है।

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 November 2019

26/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only you children have the elevated knowledge of the drama. You know that this drama repeats identically.
Question: What question do householders ask Baba and what advice does Baba give them?
Answer: Some children ask: Baba, should I do business? Baba says: Children, you may do business, but do royal business. Brahmin children must not carry out the dirty business of alcohol, cigarettes etc. because there is a greater pull of the vices through those.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children. One is of the elevated directions of the spiritual Father and the other is of the devilish dictates of Ravan. The Father’s directions cannot be called devilish dictates. Ravan cannot be called the Father. Those are the devilish dictates of Ravan. You children are now receiving God’s directions. There is such a difference of day and night! It enters your intellects that you are imbibing divine virtues by following God’s directions. Only you children hear this from the Father. No one else knows about this. You meet the Father in order to receive wealth from Him. Through Ravan, your wealth continues to decrease. Only you know where God’s directions lead you and where devilish dictates lead you. From the time that you received devilish dictates, you have continued to fall. In the new world, you only fall a little. You children have now understood how it was that you fell and how you now have to climb up. You children are now receiving shrimat to become elevated once again. You have come here to become elevated. You know how you receive elevated directions once again. You have claimed a high status many times by following elevated directions. Then, while taking rebirth, you have continued to come down. You then ascend just once. It is numberwise according to the efforts you make. The Father explains that it takes time. The time of the most auspicious confluence age is very accurate. The drama also moves in a very accurate way and it is very wonderful. You children are very easily able to understand that you have to remember the Father and claim the inheritance; that’s all! However, when you make effort, some of you find it difficult and not that easy to claim such a highest-on-high status. It is very easy to remember the Father and to claim your inheritance is also easy; it is a matter of a second. However, when you begin to make effort, there are also obstacles from Maya. You have to conquer Ravan. There is the kingdom of Ravan over the whole world. You now understand that you have been conquering Ravan with the power of yoga every cycle. Even now, you are gaining victory over him. It is the unlimited Father who is teaching you this. On the path of devotion too, you have been calling out: Baba, Baba! However, previously, you didn’t know the Father. You used to know the soul. It is said: A wonderful star shines in the centre of the forehead. Whilst knowing the soul, you didn’t know the Father. This is such a unique drama. You used to say: O Supreme Father, Supreme Soul! You used to remember Him, but you didn’t know Him. You neither fully knew the occupation of God nor of souls. The Father, Himself, comes and explains to you. No one, except the Father, can make you have realisation. No one else has this part. The Godly community, the devilish community and the divine community are all remembered. This is very easy but it is only in your remembering these things that Maya causes you obstacles; she makes you forget. The Father says: You remember the Father, numberwise, according to your efforts. Then, when it is the end of the drama, that is, when it is the end of the old world, that kingdom will definitely be established, numberwise, according to the effort you make. No one can understand these things from the scriptures. This one studied the Gita etc. a great deal. The Father now says: That has no value. However, on the path of devotion, they receive a lot of pleasure through the ears and this is why they don’t renounce any of that. You know that everything depends on the efforts you make. Some people’s business is royal whereas the business of others is dirty. To sell alcohol, cigarettes, etc. is a very bad business. Alcohol attracts all the vices. The business of making someone an alcoholic is not a good business. The Father advises you: Find a way to change that business. Otherwise, you won’t be able to claim a high status. The Father explains: There is a loss in all of those types of business where there are no imperishable jewels of knowledge. Although this one used to have a jewellery business, he didn’t benefit from that. At the most, he became a millionaire. What do you become through this business? Baba always writes in the letters to them multimillion times fortunate one, and you become that for 21 births! You can also understand that what Baba says is absolutely right. We were those deities and then we came down as we went around the cycle. You now also know the beginning, middle and end of the world. You have received knowledge from the Father but you also have to imbibe divine virtues. You have to check yourself to see that you don’t have any devilish traits. This Baba knows that he has given his building, his body, on rent. This (body) is also a building in which the soul resides. I have a lot of intoxication that I have rented out my building to God. According to the dramaplan, He is not going to take any other building. Every cycle, He has to take just this building. This one has great happiness about this, but there was also so much upheaval at that time. This Baba jokingly sometimes says to Shiv Baba: Baba, when I became Your chariot, I had to take so many insults. The Father says: I was the One who was insulted the most and it is now your turn. Brahma was never insulted previously, but it is now his turn. He has given his chariot, and so he understands that he will definitely also receive help from the Father. Nevertheless, Baba says that you children can go ahead faster than me in constantly remembering the Father. This is because this one has a lot of responsibility. Although he puts everything aside, saying that it is the drama, there is still some effect of that. That person used to do very good service. He became spoilt by bad company. So much disservice takes place. When you perform such actions, there is an effect of that. At that time, you don’t understand that it is also in the predestined drama. You think about that later. This is fixed in the drama. Maya spoils your stage and so there is a lot of disservice done. Innocent ones are assaulted so much! Here, one’s own children do so much disservice! They begin to say all sorts of wrong things. You children now know what the Father is telling you. He doesn’t relate any scriptures etc. We are now becoming so elevated by following shrimat. By following devilish dictates, we have become so corrupt. It takes time. The battle with Maya will continue. You will now definitely gain victory. You understand that you definitely gain victory over the lands of peace and happiness. We have been gaining victory every cycle. Establishment and destruction take place at this most auspicious confluence age. You children have all of these details in your intellects. The Father is truly carrying out establishment through us. Then, we shall rule the world. We don’t even give thanks to Baba. The Father says: This too is fixed in the drama. I too am an actor in this drama. Everyone’s part in the drama is fixed. Shiv Baba has a part and we also have parts. There is no question of giving thanks. Shiv Baba says: I give you shrimat and show you the path. No one else can show you this. Tell anyone who comes that there was the new satopradhan world of heaven. This old world is said to be tamopradhan. In that case, you have to imbibe divine virtues in order to become satopradhan. You have to remember the Father. This is the mantra: Manmanabhav! Madhyajibhav! That is all. He also says: I am the Supreme Guru. You children now enable the whole world to receive salvation through the pilgrimage of remembrance. Only Shiv Baba is the Guru of the World and He gives you shrimat. You know that we receive this shrimat every 5000 years. The cycle continues to turn. Today, this world is old, and tomorrow it will be new. It is very easy to understand this cycle, but you also have to remember it so that you can explain to others and yet you forget it! When someone falls, all the knowledge in him finishes. Maya takes away all his talents and skills. She removes all their talents and makes them completely talentless. They become trapped in vices in such a way, don’t even ask! You now remember the whole cycle. You have been in the brothel for birth after birth and have been committing thousands of sins. You say in front of all the idols that you have been sinners for birth after birth. We were previously charitable souls and then we became sinful souls. We are now becoming charitable souls once again. You children are receiving this knowledge. Then you give it to others and make them the same as yourselves. There is a difference in those who live at home with their families; they are unable to explain as much as you. However, not everyone can renounce everything. The Father Himself says: Whilst living at home, become like a lotus. If everyone were to renounce everything and come here, where would all of them sit? The Father is knowledge-full. He doesn’t study any of the scriptures etc. This one studied the scriptures etc. It is of Myself that they say: God, the Father, is knowledge-full. People don’t even know what knowledge the Father has. You now have the whole knowledge of the beginning, middle and end of the world. You know that those scriptures of the path of devotion are eternal. Those scriptures definitely emerge on the path of devotion. They ask: If a mountain has fallen, how will it be created again? However, this is in the drama. All the scriptures etc. finish, and then they are created again at their own time. Previously, we used to worship Shiva. This would also be mentioned in the scriptures. How is Shiva worshipped? People sing so many verses etc. You simply remember that Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. He is now giving us knowledge. The Father has explained to you how this world cycle turns. They have written such tall stories in the scriptures that you would never even think of. So, you children should have so much happiness within: the unlimited Father is teaching us! It is remembered: Student life is the best. God speaks: I make you into kings of kings. These things are not mentioned in any of the other scriptures. This is the highest attainment of all. In fact, there is just the one Guru who grants everyone salvation. Although those who carry out establishment of religions are called gurus, a guru is one who grants salvation. To play their parts, those gurus make everyone follow them. They cannot show anyone the path to go back home. “The procession of Shiva” is remembered, not of any other guru. People have then mixed up Shiva and Shankar. There is a difference between that one who is a resident of the subtle region and the other One who is the Resident of the incorporeal world. How could they both be one? They wrote that on the path of devotion. Brahma, Vishnu and Shankar are three children. You can also explain about Brahma. He has been adopted and so He is Shiv Baba’s child. The Father is the Highest on High and all of this is His creation. So much has to be understood. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the business of the imperishable jewels of knowledge and become multimillion times fortunate for 21 births. Check yourself: Do I have any devilish traits in me? Am I doing any business that would make me develop more vices?
  2. You have to stay on the pilgrimage of remembrance and enable the whole world to attain salvation. Follow the shrimat of the one Father, the Satguru, and do the service of making others similar to yourselves. Take care that Maya never makes you talentless.
Blessing: May you be one who transforms souls with the co-operation of your good wishes and pure feelings and become filled with total success.
When all Brahmin children collectively give the co-operation of the good wishes and pure feelings in their minds for any task, then, with this co-operation, a fortress in created in the atmosphere to transform souls. Just as a big task becomes very easy with the co-operation of five fingers, in the same way, the co-operation of every Brahmin child in service fills you with total success. The result of co-operationis success.
Slogan: Those who accumulate an income of multimillions at every step are the wealthiest of all.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2019

26-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ड्रामा की श्रेष्ठ नॉलेज तुम बच्चों के पास ही है, तुम जानते हो यह ड्रामा हूबहू रिपीट होता है”
प्रश्नः- प्रवृत्ति वाले बाबा से कौन-सा प्रश्न पूछते हैं, बाबा उन्हें क्या राय देते हैं?
उत्तर:- कई बच्चे पूछते हैं – बाबा हम धन्धा करें? बाबा कहते – बच्चे, धन्धा भल करो लेकिन रॉयल धन्धा करो। ब्राह्मण बच्चे छी-छी धन्धा शराब, सिगरेट, बीड़ी आदि का नहीं कर सकते क्योंकि इनसे और ही विकारों की खींच होती है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझा रहे हैं। अब एक है रूहानी बाप की श्रीमत, दूसरी है रावण की आसुरी मत। आसुरी मत बाप की नहीं कहेंगे। रावण को बाप तो नहीं कहेंगे ना। वह है रावण की आसुरी मत। अभी तुम बच्चों को मिल रही है ईश्वरीय मत। कितना रात-दिन का फर्क है। बुद्धि में आता है ईश्वरीय मत से दैवी गुण धारण करते आये हैं। यह सिर्फ तुम बच्चे ही बाप द्वारा सुनते हो और कोई को मालूम नहीं पड़ता है। बाप मिलते ही हैं सम्पत्ति के लिए। रावण से तो और ही सम्पत्ति कम होती जाती है। ईश्वरीय मत कहाँ ले जाती है और आसुरी मत कहाँ ले जाती है, यह तुम ही जानते हो। आसुरी मत जबसे मिलती है, तुम नीचे गिरते ही आते हो। नई दुनिया में थोड़ा-थोड़ा ही गिरते हो। गिरना कैसे होता है, फिर चढ़ना कैसे होता है – यह भी तुम बच्चे समझ गये हो। अभी श्रीमत तुम बच्चों को मिलती है फिर से श्रेष्ठ बनने के लिए। तुम यहाँ आये ही हो श्रेष्ठ बनने के लिए। तुम जानते हो – हम फिर श्रेष्ठ मत कैसे पायेंगे। अनेक बार तुमने श्रेष्ठ मत से ऊंच पद पाया है फिर पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे गिरते आये हो। फिर एक ही बार चढ़ते हो। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तो होते ही हैं। बाप समझाते हैं, टाइम लगता है। पुरूषोत्तम संगमयुग का भी टाइम है ना, पूरा एक्यूरेट। ड्रामा बड़ा एक्यूरेट चलता है और बहुत वन्डरफुल है। बच्चों को समझ में बड़ा सहज आता है-बाप को याद करना है और वर्सा लेना है। बस। परन्तु पुरूषार्थ करते हैं तो कइयों को डिफीकल्ट भी लगता है। इतना ऊंच ते ऊंच पद पाना कोई सहज थोड़ेही हो सकता है। बहुत सहज बाप की याद और सहज वर्सा बाप का है। सेकण्ड की बात है। फिर पुरूषार्थ करने लगते हैं तो माया के विघ्न भी पड़ते हैं। रावण पर जीत पानी होती है। सारी सृष्टि पर इस रावण का राज्य है। अभी तुम समझते हो हम योगबल से रावण पर हर कल्प जीत पाते आये हैं। अब भी पा रहे हैं। सिखलाने वाला है बेहद का बाप। भक्ति मार्ग में भी तुम बाबा-बाबा कहते आये हो। परन्तु पहले बाप को नहीं जानते थे। आत्मा को जानते थे। कहते थे चमकता है भ्रकुटी के बीच में अजब सितारा…….। आत्मा को जानते हुए भी बाप को नहीं जानते थे। कैसा विचित्र ड्रामा है। कहते भी थे-हे परमपिता परमात्मा, याद करते थे, फिर भी जानते नहीं थे। न आत्मा के आक्यूपेशन को, न परमात्मा के आक्यूपेशन को पूरा जानते थे। बाप ही खुद आकर समझाते हैं। बाप बिगर कब कोई रियलाइज़ करा न सके। कोई का पार्ट ही नहीं। गायन भी है ईश्वरीय सम्प्रदाय, आसुरी सम्प्रदाय और दैवी सम्प्रदाय। है बहुत सहज। परन्तु यह बातें याद रहें-इसमें ही माया विघ्न डालती है। भुला देती है। बाप कहते हैं नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार याद करते-करते जब ड्रामा का अन्त होगा अर्थात् पुरानी दुनिया का अन्त होगा तब नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार राजधानी स्थापन हो ही जायेगी। शास्त्रों से यह बात कोई समझ न सके। गीता आदि तो इसने भी बहुत पढ़ी है ना। अब बाप कहते हैं इसकी कोई वैल्यू नहीं। परन्तु भक्ति में कनरस बहुत मिलता है इसलिए छोड़ते नहीं।

तुम जानते हो सारा मदार पुरूषार्थ पर है। धन्धा आदि भी कोई का रॉयल होता है, कोई का छी-छी धन्धा होता है। शराब, बीड़ी, सिगरेट आदि बेचते हैं-यह धन्धा तो बहुत खराब है। शराब सब विकारों को खींचती है। किसको शराबी बनाना-यह धन्धा अच्छा नहीं। बाप राय देंगे युक्ति से यह धन्धा चेन्ज कर लो। नहीं तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप समझाते हैं इन सब धन्धों में है नुकसान, बिगर अविनाशी ज्ञान रत्नों के धन्धे के। भल जवाहरात का धन्धा करते थे परन्तु फायदा तो नहीं हुआ ना। करके लखापति बने। इस धन्धे से क्या बनते हैं? बाबा पत्रों में भी हमेशा लिखते हैं पद्मापद्म भाग्यशाली। सो भी 21 जन्मों के लिए बनते। तुम भी समझते हो बाबा कहते बिल्कुल ठीक हैं। हम सो यह देवी-देवता थे, फिर चक्र लगाते-लगाते नीचे आते हैं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को भी जान गये हो। नॉलेज तो बाप द्वारा मिली है परन्तु फिर दैवीगुण भी धारण करने हैं। अपनी जांच करनी है-हमारे में कोई आसुरी गुण तो नहीं हैं? यह बाबा भी जानते हैं हमने अपना यह शरीर रूपी मकान किराये पर दिया है। यह मकान है ना। इसमें आत्मा रहती है। हमको बहुत फखुर रहता है-भगवान को हमने किराये पर मकान दिया है! ड्रामा प्लेन अनुसार और कोई मकान उनको लेना ही नहीं है। कल्प-कल्प यह मकान ही लेना पड़ता है। इनको तो खुशी होती है ना। परन्तु फिर हंगामा भी कितना मचा। यह बाबा हंसी-कुड़ी में कब बाबा को कहते हैं-बाबा, आपका रथ बना तो हमको इतनी गाली खानी पड़ती है। बाप कहते हैं सबसे जास्ती गाली मुझे मिली। अब तुम्हारी बारी है। ब्रह्मा को कब गाली मिली नहीं हैं। अब बारी आयी है। रथ दिया है यह तो समझते हैं ना तो जरूर बाप से मदद भी मिलेगी। फिर भी बाबा कहते हैं बाप को निरन्तर याद करना, इसमें तुम बच्चे इनसे भी जास्ती तीखे जा सकते हो क्योंकि इनके ऊपर तो मामला बहुत हैं। भल ड्रामा कहकर छोड़ देते हैं फिर भी कुछ लैस जरूर आती है। यह बिचारे बहुत अच्छी सर्विस करते थे। यह संगदोष में खराब हो गये। कितनी डिससर्विस होती है। ऐसा-ऐसा काम करते हैं, लैस आ जाती है। उस समय यह नहीं समझते कि यह भी ड्रामा बना हुआ है। यह फिर बाद में ख्याल आता है। यह तो ड्रामा में नूँध है ना। माया अवस्था को बिगाड़ देती है तो बहुत डिस सर्विस हो जाती है। कितना अबलाओं आदि पर अत्याचार हो जाते हैं। यहाँ तो खुद के बच्चे ही कितनी डिससर्विस करते हैं। उल्टा सुल्टा बोलने लग पड़ते हैं।

अभी तुम बच्चे जानते हो बाप क्या सुनाते हैं? कोई शास्त्र आदि नहीं सुनाते हैं। अभी हम श्रीमत पर कितना श्रेष्ठ बनते हैं। आसुरी मत से कितना भ्रष्ट बने हैं। टाइम लगता है ना। माया की युद्ध चलती रहेगी। अभी तुम्हारी विजय तो जरूर होनी है। यह तुम समझते हो शान्तिधाम सुखधाम पर हमारी विजय है ही। कल्प-कल्प हम विजय पाते आये हैं। इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही स्थापना और विनाश होता है। यह सारी डीटेल तुम बच्चों की बुद्धि में है। बरोबर बाप हमारे द्वारा स्थापना करा रहे हैं। फिर हम ही राज्य करेंगे। बाबा को थैंक्स भी नहीं देंगे! बाप कहते हैं यह भी ड्रामा में नूँध हैं। मैं भी इस ड्रामा के अन्दर पार्टधारी हूँ। ड्रामा में सबका पार्ट नूँधा हुआ है। शिवबाबा का भी पार्ट है। हमारा भी पार्ट है। थैंक्स देने की बात नहीं। शिवबाबा कहते हैं मैं तुमको श्रीमत दे रास्ता बताता हूँ और कोई बता न सके। जो भी आये बोलो सतोप्रधान नई दुनिया स्वर्ग थी ना। इस पुरानी दुनिया को तमोप्रधान कहा जाता है। फिर सतोप्रधान बनने के लिए दैवीगुण धारण करने हैं। बाप को याद करना है। मंत्र ही यह है मनमनाभव, मध्याजी भव। बस यह भी बताते हैं मैं सुप्रीम गुरू हूँ।

तुम बच्चे अभी याद की यात्रा से सारी सृष्टि को सद्गति में पहुँचाते हो। जगतगुरू एक शिवबाबा है जो तुमको भी श्रीमत देते हैं। तुम जानते हो हर 5 हजार वर्ष बाद हमको यह श्रीमत मिली है। चक्र फिरता रहता है। आज पुरानी दुनिया है, कल नई दुनिया होगी। इस चक्र को समझना भी बहुत सहज है। परन्तु यह भी याद रहे जो कोई को समझा सकें। यह भी भूल जाते हैं। कोई गिरते हैं तो फिर ज्ञान आदि सारा खत्म हो जाता है। कला-काया माया ले लेती है। सब कला निकाल कला रहित कर देती है। विकार में ऐसे फँस जाते हैं, बात मत पूछो। अभी तुमको सारा चक्र याद है। तुम जन्म जन्मान्तर वेश्यालय में रहे हो, हजारों पाप करते आये हो। सबके आगे कहते हो-जन्म-जन्म के हम पापी हैं। हम ही पहले पुण्य आत्मा थे, फिर पाप आत्मा बने। अब फिर पुण्य आत्मा बनते हैं। यह तुम बच्चों को नॉलेज मिल रही है। फिर तुम औरों को दे आप समान बनाते हो। गृहस्थ व्यवहार में रहने से फ़र्क तो रहता है ना। वह इतना नहीं समझा सकते हैं जितना तुम। परन्तु सब तो नहीं छोड़ सकते हैं। बाप खुद कहते हैं-गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनना है। सब छोड़कर आवें तो इतने सब बैठेंगे कहाँ। बाप नॉलेजफुल है। वह कुछ भी शास्त्र आदि पढ़ते नहीं। यह शास्त्र आदि पढ़ा था। मेरे लिए तो कहते हैं गॉड फादर इज़ नॉलेजफुल। मनुष्य यह भी जानते नहीं हैं कि बाप में क्या नॉलेज है। अभी तुमको सारी सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त की नॉलेज है। तुम जानते हो यह भक्ति मार्ग के शास्त्र भी अनादि हैं। भक्ति मार्ग में यह शास्त्र भी जरूर निकलते हैं। कहते हैं पहाड़ टूट गया फिर बनेगा कैसे! परन्तु यह तो ड्रामा है ना। शास्त्र आदि यह सब खत्म हो जाते हैं, फिर अपने समय पर वही बनते हैं। हम पहले-पहले शिव की पूजा करते हैं – यह भी शास्त्रों में होगा ना। शिव की भक्ति कैसे की जाती है। कितने श्लोक आदि गाते हैं। तुम सिर्फ याद करते हो-शिवबाबा ज्ञान का सागर है। वह अभी हमको ज्ञान दे रहे हैं। बाप ने तुमको समझाया है-यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। शास्त्रों में इतना लम्बा-चौड़ा गपोड़ा लगा दिया है, जो कब स्मृति में आ भी न सके। तो बच्चों को अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए-बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं! गाया भी जाता है स्टूडेण्ट लाइफ इज़ दी बेस्ट। भगवानुवाच-मैं तुमको यह राजाओं का राजा बनाता हूँ। और कोई शास्त्रों में यह बातें हैं नहीं। ऊंच ते ऊंच प्राप्ति है ही यह। वास्तव में गुरू तो एक ही है जो सर्व की सद्गति करते हैं। भल स्थापना करने वाले को भी गुरू कह सकते हैं, परन्तु गुरू वह जो सद्गति दे। यह तो अपने पिछाड़ी सबको पार्ट में ले आते हैं। वापिस ले जाने के लिए रास्ता तो बताते नहीं। बरात तो शिव की ही गाई हुई है, और कोई गुरू की नहीं। मनुष्यों ने फिर शिव और शंकर को मिला दिया है। कहाँ वह सूक्ष्मवतन-वासी, कहाँ वह मूलवतनवासी। दोनों एक हो कैसे सकते। यह भक्ति मार्ग में लिख दिया है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तीन बच्चे ठहरे ना। ब्रह्मा पर भी तुम समझा सकते हो। इनको एडाप्ट किया है तो यह शिवबाबा का बच्चा ठहरा ना। ऊंच ते ऊंच है बाप। बाकी यह है उनकी रचना। कितनी यह समझने की बातें हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान रत्नों का धन्धा कर 21 जन्मों के लिए पद्मापद्म भाग्यशाली बनना है। अपनी जांच करनी है-हमारे में कोई आसुरी गुण तो नहीं है? हम ऐसा कोई धन्धा तो नहीं करते जिससे विकारों की उत्पत्ति हो?

2) याद की यात्रा में रह सारी सृष्टि को सद्गति में पहुँचाना है। एक सतगुरू बाप की श्रीमत पर चल आप समान बनाने की सेवा करनी है। ध्यान रहे-माया कभी कला रहित न बना दे।

वरदान:- शुभ भावना, शुभ कामना के सहयोग से आत्माओं को परिवर्तन करने वाले सफलता सम्पन्न भव
जब किसी भी कार्य में सर्व ब्राह्मण बच्चे संगठित रूप में अपने मन की शुभ भावनाओं और शुभ कामनाओं का सहयोग देते हैं – तो इस सहयोग से वायुमण्डल का किला बन जाता है जो आत्माओं को परिवर्तन कर लेता है। जैसे पांच अंगुलियों के सहयोग से कितना भी बड़ा कार्य सहज हो जाता है, ऐसे हर एक ब्राह्मण बच्चे का सहयोग सेवाओं में सफलता सम्पन्न बना देता है। सहयोग की रिजल्ट सफलता है।
स्लोगन:- कदम-कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाला ही सबसे बड़ा धनवान है।

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 November 2018 :- Click Here

26/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you become body conscious, Maya slaps you. Remain soul conscious and you will be able to follow every shrimat of the Father.
Question: The Father has two types of effort-making children. What are they?
Answer: One type is of those who make complete effort to claim their full inheritance from the Father; they take the Father’s advice at every step. The other type is of those who make effort to divorce the Father. There are some who remember the Father a great deal in order to become free from sorrow, and there are others who want to become trapped in sorrow. This too is a wonder!
Song: The Flame has ignited in the happy gathering of moths!

Om shanti. You children have heard this song many times. New children must be hearing it for the first time because, when the Father comes, He gives His introduction. Now, you children have received the introduction and you know that you have become children of the unlimited Mother and Father. The Mother and Father must surely be the Creator of the human world. However, Maya has made the intellects of human beings completely dead. Such a simple thing does not sit in their intellects. Everyone says that God created us. Therefore, He must surely be the Mother and Father. They remember God on the path of devotion. People of every religion definitely remember God the Father. Devotees of God cannot be God themselves. Devotees make spiritual endeavour and pray to God. Surely, there can only be one God, the Father of all, that is, One who is the Father of all souls. There cannot be one F ather of all the bodies; there would have to be many different fathers. Although everyone has a physical father, they call out “O God!” and remember Him. The Father sits here and explains: Human beings are so senseless that they forget the Father’s introduction! You understand that the Creator of heaven is definitely the one Father. It is now the iron age. This iron age definitely has to be destroyed. The word ‘disappeared’ comes up in every aspect. You children know that the golden age has now disappeared. Achcha, now the question arises: Will they know in the golden age that the golden age will disappear and that there will then be the silver age? No! There is no need for this knowledge there. These aspects of how the cycle turns and who their parlokik Father is are not in anyone’s intellect. Only you children know this. People sing: “You are our Mother and Father and we are Your children”, yet they do not know Him. Therefore, it is useless even to say this. They have all forgotten the Father; this is why they have become orphans. The Father explains everything. Follow shrimat at every step, otherwise Maya can deceive you at any time. Maya is very deceitful. It is the Father’s task to liberate you from Maya. Ravan is in any case the one who causes you sorrow. The Father is the One who gives you happiness. Human beings cannot understand these things. They think that it is God who gives happiness and sorrow. The Father explains that people incur so much expense on weddings in order to become unhappy. They make effort to make pure saplings impure. Only you understand these aspects; the world does not understand them. They perform so many ceremonies to drown people in the ocean of poison. They don’t even know that this poison will not exist in the golden age. That is the ocean of milk, whereas this is called the ocean of poison. That world is completely viceless. Even though there are two degrees less in the silver age, it is still called the viceless world. There can be no sin there, because the kingdom of Ravan begins in the copper age. It is half and half: there is the ocean of knowledge and the ocean of ignorance. There is also the ocean of ignorance. Human beings are so ignorant that they don’t even know the Father. They just say that you will find God by doing this and that. However, they don’t find anything. After they have beaten their heads and become orphaned and unhappy, I, the Lord and Master, come. In the absence of the Lord and Master, Maya, the alligator, has completely swallowed everyone. The Father explains: Maya is very strong and many are deceived by her. Some are slapped by lust and some are slapped by attachment. It is by becoming body conscious that you get slapped. Effort lies in becoming soul conscious. This is why the Father repeatedly says: Be cautious, Manmanabhav! Maya slaps you if you don’t remember the Father. Therefore, practise staying in constant remembrance. Otherwise, Maya will make you do wrong things. You have received intellects to know the difference between right and wrong. If you get confused about anything, ask the Father. You can send a telegram, or write a letter or even phone and ask. You can get through on the phone straightaway early in the mornings because everyone, apart from you, is asleep at that time. Therefore, you can ask by p honing. Day by day, communication by phone is becoming refined. However, the Government is very poor, and so the expenditure is according to that. At this time everyone has reached the stage of total decay and become completely impure. However, even then, why are the people of Bharat especially called rajo and tamoguni? Because they were the most satopradhan. Those of other religions neither see as much happiness nor as much sorrow. They are now content, which is why they are able to send so much food. Their intellects are rajopradhan. They continue to invent many things for destruction, but they don’t understand this. This is why many pictures etc. have to be sent to them. Ultimately they will come to know and understand that these things are very good. It is written on them: A God f atherly gift. When the time comes for calamities, this sound will be heard and they will understand that they definitely received these things. These pictures will do a lot of work. The poor people don’t know the Father. Only the one Father is the Bestower of Happiness. Everyone remembers Him. They can understand this very clearly from the pictures. Just see how, at this time, you can’t even get three feet of land and yet you become the masters of the whole world. These pictures will also do a lot of service abroad. However, children do not value these pictures that much. Expenditure will definitely be incurred. Millions of the Government’s rupees must have been spent and hundreds of thousands must have died in establishing that kingdom. Here, there is no question of anyone dying. You have to make full effort on the basis of shrimat. Only then will you be able to attain an elevated status. Otherwise, you will repent a great deal at the time you have to be punished. As well as being the Father, that One is also the Supreme Judge. I come into the impure world to give you children your kingdom of self-sovereignty for 21 births. If you do anything destructive, you will have to endure full punishment. You should not say: Let’s see what happens! Who wants to sit and think about the next birth now? Human beings give donations and perform charity for their next birth. Whatever you do now is also for 21 births. Whatever they do is temporary; they only receive the return of that in hell whereas you receive the return in the golden age. There is the difference of day and night. You claim your reward of heaven for 21 births. By following shrimat in every respect, your boat goes across. The Father says: I seat you children in My eyes and take you across in great comfort. You have experienced a great deal of sorrow. I now say to you: Remember Me! You came bodiless and played your parts and you now have to return. These parts of yours are eternal. Those who have the arrogance of science cannot understand these things. A soul is like a very tiny star and has an eternal, imperishable part recorded within it; it can never end. The Father says: I am the Creator and also the principal Actor. I come every cycle to play My part. It is said that the Supreme Soul has a mind and an intellect and that He is the Living Being and k nowledge-full. However, no one knows what He is. Just as you souls are s tars, I too am a s tar. You remembered Me on the path of devotion too because you were unhappy. I come and take you children back home with Me. I am also your Guide. I, the Supreme Soul, take you souls back home. A soul is even tinier than a mosquito. It is now that you children receive this understanding. He explains everything very clearly. The Father says: I make you into the masters of the world but I keep the key to divine visions with Myself. I do not give this to anyone. On the path of devotion this key is useful for only Me. The Father says: I make you pure and worthy of being worshipped. Maya makes you impure and a worshipper. A great deal of explanation is given to you all, but only those who are wise will understand. This tape machine is a very good thing. Children should definitely listen to the murli. You are long-lost and now-found children. Baba feels great compassion for the gopikas in bondage. They experience great happiness by listening to Baba’s murli. What would one not do for the sake of children’s happiness? Day and night, Baba is concerned about the gopikas in the villages. Sometimes, he can’t sleep for thinking about what methods can be adopted so that those children can become liberated from sorrow. However, some make preparations to become trapped in sorrow. Some make effort to claim their inheritance and others make effort to divorce Him. The world nowadays is very bad. Some children don’t even hesitate to kill their father. The unlimited Father explains everything very clearly. I will give you children so much wealth that you will never become unhappy. Therefore, you children should make your hearts merciful and show everyone this path to happiness. Nowadays, everyone continues to cause sorrow. A teacher , however, would never show a path to sorrow; he simply teaches. Study is the source of income. It is by studying that you become worthy of earning a livelihood. Although people receive an inheritance from their mother and father, of what use is it? The more wealth people have, the more sin they commit. Previously, when people went on pilgrimages, they had great humility, but now some even take alcohol with them and drink it secretly. Baba has seen this. Some can’t do without alcohol; don’t even ask! Some soldiers drink a lot of alcohol before they go to fight a battle. Those soldiers don’t worry about being killed. They think that the soul will leave one body and take another. You children now receive the knowledge that you have to renounce those dirty bodies, whereas they don’t have this knowledge. However, they have formed the habit of killing and being killed. We want to go to Baba with our own efforts while sitting here. This is an old skin. In the cold weather a snake’s skin becomes dry and so it sheds its old skin. While playing your parts your skins have become old and very dirty. You now have to renounce them. You have to return to Baba. Baba has shown you methods to do this: Manmanabhav! Remember Me, that’s all, and you will shed your bodies while sitting. This also happens to the sannyasis. They shed their bodies while just sitting. They think that the soul has to merge into the brahm element and so they sit and have yoga with the brahm element. However, they cannot go there. Similarly, people go and sacrifice themselves at Kashi. They are just committing suicide. Baba has also seen how sannyasis renounce their bodies while sitting in yoga, but that is hatha yoga renunciation. The Father explains how you take 84 births. He gives you so much knowledge, but scarcely any follow shrimat. By coming into body consciousness, some even start giving their own directions to the Father. The Father explains: Become soul conscious! I am a soul. Baba, You are the Ocean of Knowledge. Baba, I will now only follow Your instructions; that’s all! Great caution is needed at every step. Mistakes continue to be made, but you still have to make effort. Continue to remember the Father wherever you go. There is a great burden of sins on your heads. You also have to settle the suffering of karma. This suffering of karma will not leave you until the end. By following shrimat, you have to become those with pure intellects. Dharamraj is also with Him, and so He becomes responsible. Why do you carry burdens yourselves when the Father is sitting here? The Purifier Father has to come into the gathering of the impure ones. This is not a new thing. This part has been played innumerable times before and will continue to be played. This is called a wonde r. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, parlokik BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become merciful just like the Father and liberate everyone from sorrow. Show them the path to happiness.
  2. Do not perform any destructive (wrong) act. Create your reward for 21 births on the basis of shrimat. Remain very cautious at every step you take.
Blessing: May you consider anyone who defames you to be your friend and give him respect and become a master creator like Father Brahma.
Father Brahma considered himself to be a world server and gave respect to each and every one and always saluted each one. Similarly, he never thought that he will only give respect to someone when that one gives him respect. He considered someone who defamed him to be his friend and gave that one respect; so follow the father in the same way. Do not just consider those who respect you to belong to you, but even consider those who insult you to belong to you and give them respect because the whole world is your family. You Brahmins are the trunk for all souls and so consider yourselves to be master creators and give respect to everyone and you will become deities.
Slogan: Those who bid farewell to Maya for all time become worthy of receiving congratulations from the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2018

To Read Murli 25 November 2018 :- Click Here
26-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह-अभिमान में आने से ही माया की चमाट लगती है, देही-अभिमानी रहो तो बाप की हर श्रीमत का पालन कर सकेंगे”
प्रश्नः- बाप के पास दो प्रकार के पुरुषार्थी बच्चे हैं, वह कौन से?
उत्तर:- एक बच्चे हैं जो बाप से वर्सा लेने का पूरा-पूरा पुरुषार्थ करते हैं, हर क़दम पर बाप की राय लेते हैं। दूसरे फिर ऐसे भी बच्चे हैं जो बाप को फ़ारकती देने का पुरुषार्थ करते हैं। कोई हैं जो दु:ख से छूटने के लिए बाप को बहुत-बहुत याद करते हैं, कोई फिर दु:ख में फँसना चाहते हैं, यह भी वन्डर है ना।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत तो बहुत बार सुना है। नये बच्चे फिर नयेसिर सुनते होंगे जबकि बाप आते हैं तो आकर अपना परिचय देते हैं। बच्चों को परिचय मिला हुआ है। जानते हैं अभी हम बेहद के मात-पिता की सन्तान बने हैं। जरूर मनुष्य सृष्टि का रचयिता मात-पिता होगा। परन्तु माया ने मनुष्यों की बुद्धि बिल्कुल डेड कर दी है। इतनी साधारण बात बुद्धि में नहीं बैठती। कहते तो सभी हैं कि हमको भगवान् ने पैदा किया है। तो जरूर मात-पिता होंगे! भक्ति मार्ग में याद भी करते हैं। हर धर्म वाले गॉड फादर को जरूर याद करते हैं। भक्त खुद तो भगवान् हो नहीं सकते। भक्त भगवान् की बन्दगी (साधना) करते हैं। गॉड फादर तो जरूर सबका एक ही होगा अर्थात् सभी आत्माओं का फादर एक है। सभी जिस्मों का फादर एक हो नहीं सकता। वह तो अनेक फादर हैं। वह जिस्मानी फादर होते हुए भी ‘हे ईश्वर’ कहकर याद करते हैं। बाप बैठ समझाते हैं – मनुष्य बेसमझ हैं जो बाप का परिचय ही भूल जाते हैं। तुम जानते हो स्वर्ग का रचयिता जरूर एक ही बाप है। अभी कलियुग है। जरूर कलियुग का विनाश होगा। ‘प्राय:लोप’ अक्षर तो हर बात में आता है। बच्चे जानते हैं – सतयुग अभी प्राय:लोप है। अच्छा, फिर प्रश्न उठता है सतयुग में उन्हों को यह पता होगा कि यह सतयुग प्राय:लोप हो जायेगा फिर त्रेता होगा? नहीं, वहाँ तो इस नॉलेज की दरकार ही नहीं। यह बातें किसकी भी बुद्धि में नहीं हैं – सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, हमारा पारलौकिक बाप कौन है? यह तुम बच्चे ही जानते हो। मनुष्य गाते हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे…….. परन्तु जानते नहीं। तो कहना भी न कहने के बराबर हो जाता है। बाप को भूल गये हैं इसलिए आरफन बन पड़े हैं। बाप हर बात समझाते हैं। श्रीमत पर क़दम-क़दम चलो। नहीं तो कोई समय माया बड़ा धोखा देगी। माया है ही धोखेबाज़। माया से लिबरेट करना – यह बाप का ही काम है। रावण तो है ही दु:ख देने वाला। बाप है सुख देने वाला। मनुष्य इन बातों को समझ नहीं सकते। वह तो समझते हैं दु:ख सुख भगवान् ही देते हैं। बाप समझाते हैं – मनुष्य दु:खी बनने के लिए शादियों में कितना खर्चा करते हैं! जो पवित्र पौधे हैं उनको अपवित्र बनाने का पुरुषार्थ किया जाता है। यह भी तुम समझ सकते हो, दुनिया नहीं समझती। यह विषय सागर में डूबने लिए कितनी सेरीमनी करते हैं। उन्हों को यह पता नहीं है कि सतयुग में यह विष (विकार) होता नहीं। वह है ही क्षीरसागर। इसको विषय सागर कहा जाता है। वह है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। भल त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं, तो भी उनको निर्विकारी दुनिया कहा जाता है। वहाँ विकार हो नहीं सकते क्योंकि रावण का राज्य द्वापर से ही शुरू होता है। आधा-आधा है ना। ज्ञान सागर और अज्ञान सागर। अज्ञान का भी सागर है ना।

मनुष्य कितने अज्ञानी हैं। बाप को भी नहीं जानते। सिर्फ कहते रहते हैं कि यह करने से भगवान मिलेगा। मिलता कुछ भी नहीं। माथा मारते-मारते दु:खी, निधनके बन जाते हैं तब ही फिर मैं धनी आता हूँ। धनी बिगर माया अजगर ने सबको खा लिया है। बाप समझाते हैं माया बड़ी दुश्तर है। बहुतों को धोखा मिलता है। कोई को काम की चमाट, कोई को मोह की चमाट लग जाती है। देह-अभिमान में आने से ही चमाट लगती है। मेहनत है ही देही-अभिमानी बनने में इसलिए बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं सावधान, मनमनाभव। बाप को याद नहीं करेंगे तो माया थप्पड़ लगा देगी इसलिए निरन्तर याद करने का अभ्यास करो। नहीं तो माया उल्टा कर्तव्य करा देगी। रांग-राइट की बुद्धि तो मिली ही है। कहाँ भी मूंझो तो बाप से पूछो। तार में, चिट्ठी में अथवा फोन पर पूछ सकते हो। फोन सवेरे-सवेरे झट मिल सकता है क्योंकि उस समय सिवाए तुम्हारे बाकी सब सोये रहते हैं। तो फोन पर तुम पूछ सकते हो। दिन-प्रतिदिन फोन आदि की आवाज भी सुधारते रहते हैं। परन्तु गवर्मेन्ट है गरीब, तो खर्चा भी ऐसे ही करती है। इस समय तो सब जड़जड़ीभूत अवस्था वाले तमोप्रधान हैं फिर भी ख़ास भारतवासियों को रजो-तमोगुणी क्यों कहा जाता है? क्योंकि यही सबसे ज्यादा सतोप्रधान थे। दूसरे धर्म वालों ने न तो इतना सुख देखा है, न दु:ख देखना है। वह अभी सुखी हैं तब तो इतना अनाज आदि भेजते रहते हैं। उन्हों की बुद्धि रजोप्रधान है। विनाश के लिए कितनी इन्वेन्शन करते हैं। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं पड़ता है इसलिए उन्हों को बहुत चित्र आदि भेजने पड़े, तो उन्हों को भी पता पड़ेगा, आखरीन समझेंगे यह चीज़ तो बड़ी अच्छी है। इन पर लिखा हुआ है गॉड फादरली गिफ्ट। जब आफत का समय होगा तो आवाज़ निकलेगा फिर समझेंगे बरोबर यह हमको मिला था। इन चित्रों से बहुत काम निकलेगा। बाप को विचारे जानते ही नहीं। सुखदाता तो वह एक ही बाप है। सब उनको याद करते हैं। चित्रों से अच्छी रीति समझ सकते हैं। अभी देखो 3 पैर पृथ्वी के नहीं मिलते हैं और फिर तुम सारे विश्व के मालिक बन जाते हो! यह चित्र विलायत में भी बहुत सर्विस करेंगे। बच्चों को इन चित्रों का इतना कदर नहीं है। खर्चा तो होना ही है। राजधानी स्थापन करने में उस गवर्मेन्ट का करोड़ों रुपया खर्च हुआ होगा और लाखों मरे। यहाँ तो मरने की बात ही नहीं। श्रीमत पर पूरा पुरुषार्थ करना है, तब ही श्रेष्ठ पद पा सकेंगे। नहीं तो पीछे सजा खाने समय बहुत पछतायेंगे। यह बाप भी है तो धर्मराज भी है। पतित दुनिया में आकर बच्चों को 21 जन्मों के लिए स्वराज्य देता हूँ। अगर फिर कोई विनाशकारी कर्तव्य किया तो पूरी सजा खायेंगे। ऐसे नहीं, जो होगा वह देखा जायेगा, दूसरे जन्म का कौन बैठ विचार करे। मनुष्य दान पुण्य भी दूसरे जन्म के लिए करते हैं। तुम अभी जो करते हो वह 21 जन्मों के लिए। वह जो कुछ करते हैं, अल्पकाल के लिए। एवज़ा फिर भी नर्क में ही मिलेगा। तुमको तो स्वर्ग में एवज़ा मिलना है। रात-दिन का फ़र्क है। तुम स्वर्ग में 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध पाते हो। हर बात में श्रीमत पर चलने से बेड़ा पार है। बाप कहते हैं तुम बच्चों को नयनों पर बिठाकर बड़े आराम से ले जाता हूँ। तुमने बहुत दु:ख उठाये हैं। अब कहता हूँ तुम मुझे याद करो। तुम नंगे आये थे, यह पार्ट बजाया, अब फिर वापिस जाना है। यह तुम्हारा अविनाशी पार्ट है। इन बातों को कोई भी साइन्स घमन्डी समझ नहीं सकते। आत्मा इतना छोटा स्टार है, उनमें अविनाशी पार्ट सदैव के लिए भरा हुआ है, यह कभी समाप्त नहीं होता। बाप भी कहते हैं मैं भी तो क्रियेटर और एक्टर हूँ। मैं कल्प-कल्प आता हूँ पार्ट बजाने। कहते हैं परमात्मा मन-बुद्धि सहित चैतन्य, नॉलेजफुल है, लेकिन क्या चीज़ है, यह कोई नहीं जानते। जैसे तुम आत्मा स्टार मिसल हो, मैं भी स्टार हूँ। भक्ति मार्ग में भी मुझे याद करते हैं क्योंकि दु:खी हैं, मैं आकर तुम बच्चों को अपने साथ ले जाता हूँ। मैं भी पण्डा हूँ। मैं परमात्मा तुम आत्माओं को ले जाता हूँ। आत्मा मच्छर से भी छोटी है। यह समझ भी तुम बच्चों को अभी मिलती है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। बाप कहते हैं तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ, बाकी दिव्य दृष्टि की चाबी मैं अपने पास ही रखता हूँ। यह किसको नहीं देता हूँ। यह भक्ति मार्ग में मेरे ही काम में आती है। बाप कहते हैं मैं तुमको पावन, पूज्य बनाता हूँ, माया पतित, पुजारी बनाती है। समझाते तो बहुत हैं परन्तु कोई बुद्धिवान समझे।

यह टेप मशीन बहुत अच्छी चीज़ है। बच्चों को मुरली तो जरूर सुननी है। बहुत सिकीलधे बच्चे हैं। बाबा को बांधेली गोपिकाओं पर बहुत तरस पड़ता है। बाबा की मुरली सुनकर बहुत खुश होंगे। बच्चों की खुशी के लिए क्या नहीं करना चाहिए। बाबा को तो रात-दिन गांव की गोपिकाओं का ख्याल रहता है। नींद भी फिट जाती है, क्या युक्ति रचें, कैसे बच्चे दु:ख से छूटें। कोई तो फिर दु:ख में फँसने लिए भी तैयारी करते हैं, कोई तो पुरुषार्थ करते हैं वर्सा लेने का, तो कोई फिर फारकती देने का भी पुरुषार्थ करते हैं। दुनिया तो आजकल बहुत खराब है। कोई बच्चे तो बाप को मारने में भी देरी नहीं करते हैं। बेहद का बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। मैं बच्चों को इतना धन दूँगा जो यह कभी दु:खी नहीं होंगे। तो बच्चों को भी इतना रहमदिल बनना चाहिए कि सबको सुख का रास्ता बतायें। आजकल तो सभी दु:ख देते हैं, बाकी टीचर कभी दु:ख का रास्ता नहीं बतायेंगे। वह पढ़ाते हैं। पढ़ाई सोर्स आफ इनकम है। पढ़ाई से शरीर निर्वाह करने लायक बनते हैं, माँ-बाप से भल वर्सा मिलता है परन्तु वह क्या काम का? जितना जास्ती धन, उतना पाप बहुत करते हैं। नहीं तो तीर्थ यात्रा करने बड़ी नम्रता से जाते हैं। परन्तु कोई-कोई तो तीर्थ यात्रा पर भी शराब ले जाते हैं, फिर छिपाकर पीते हैं। बाबा का देखा हुआ है – शराब बिगर रह नहीं सकते। बात मत पूछो। लड़ाई में जाने वाले भी शराब खूब पीते हैं। लड़ाई वालों को अपनी जान का ख्याल नहीं रहता है। समझते हैं आत्मा एक शरीर छोड़ जाकर दूसरा शरीर लेगी। तुम बच्चों को भी अभी ज्ञान मिलता है। यह छी-छी शरीर छोड़ना है। उन्हों को कोई ज्ञान नहीं। परन्तु आदत पड़ी हुई है – मरना और मारना। यहाँ तो हम आपेही बैठे-बैठे बाबा के पास जाना चाहते हैं। यह पुरानी खाल है। जैसे सर्प भी पुरानी खाल छोड़ देते हैं। ठण्डी में सूख जाती तो उतार देते हैं। तुम्हारी यह तो बहुत छी-छी पुरानी खाल है, पार्ट बजाते अब इनको छोड़ना है, बाबा के पास जाना है। बाबा ने युक्ति तो बताई है – मनमनाभव। मुझे याद करो बस, ऐसे बैठे-बैठे शरीर छोड़ देंगे। सन्यासियों का भी ऐसे होता है – बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं क्योंकि वह समझते हैं आत्मा को ब्रह्म में लीन होना है, तो योग लगाकर बैठते हैं। परन्तु जा नहीं सकते। जैसे काशी कलवट खाते हैं, वह जीवघात हो जाता है। यह सन्यासी भी बैठे-बैठे ऐसे जाते हैं, बाबा का देखा हुआ है, वह हुआ हठयोग सन्यास।

बाप समझाते हैं तुमको 84 जन्म कैसे मिलते हैं? तुमको कितनी नॉलेज देते हैं, कोई बिरला ही श्रीमत पर चलता है। देह-अभिमान आने से फिर बाप को भी अपनी मत देने लग पड़ते हैं। बाप समझाते हैं देही-अभिमानी बनो। मैं आत्मा हूँ, बाबा आप ज्ञान के सागर हो। बस, बाबा आपकी राय पर ही चलूँगा। क़दम-क़दम पर बड़ी सावधानी चाहिए। भूलें तो होती रहती हैं फिर पुरुषार्थ करना पड़ता है। कहाँ भी जाओ बाप को याद करते रहो। विकर्मों का बोझ सिर पर बहुत है। कर्मभोग भी तो चुक्तू करना होता है ना। पिछाड़ी तक यह कर्मभोग छोड़ेगा नहीं। श्रीमत पर चलने से ही पारसबुद्धि बनना है। साथ में धर्मराज भी है। तो रेसपान्सिबुल वह हो गया। बाप बैठा है, तुम क्यों अपने पर बोझा रखते हो। पतित-पावन बाप को पतितों की महफिल में आना ही है। यह तो नई बात नहीं, अनेक बार पार्ट बजाया है, फिर बजाते रहेंगे। इसको ही वन्डर कहा जाता है। अच्छा!

पारलौकिक बापदादा का सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान सबको दु:खों से लिबरेट करने का रहम करना है। सुख का रास्ता बताना है।

2) कोई भी विनाशकारी (उल्टा) कर्तव्य नहीं करना है। श्रीमत पर 21 जन्मों के लिए अपनी प्रालब्ध बनानी है। क़दम-क़दम पर सावधानी से चलना है।

वरदान:- निंदक को भी अपना मित्र समझ सम्मान देने वाले ब्रह्मा बाप समान मास्टर रचयिता भव
जैसे ब्रह्मा बाप ने स्वयं को विश्व सेवाधारी समझ हर एक को सम्मान दिया, सदा मालेकम् सलाम किया। ऐसे कभी नहीं सोचा कि कोई सम्मान देवे तो मैं दूं। निंदक को भी अपना मित्र समझकर सम्मान दिया, ऐसे फालो फादर करो। सिर्फ सम्मान देने वाले को अपना नहीं समझो लेकिन गाली देने वाले को भी अपना समझ सम्मान दो क्योंकि सारी दुनिया ही आपका परिवार है। सर्व आत्माओं के तना आप ब्राह्मण हो इसलिए स्वयं को मास्टर रचयिता समझ सबको सम्मान दो तब देवता बनेंगे।
स्लोगन:- माया को सदा के लिए विदाई देने वाले ही बाप की बधाईयों के पात्र बनते हैं।
Font Resize