daily murli 26 june

TODAY MURLI 26 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 June 2020

26/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, on the basis of shrimat you are now going into the depths of silence. You receive the inheritance of peace from the Father. Everything is included in silence.
Question: On what main foundation is the new world established?
Answer: Purity. When the Father enters the body of Brahma to establish the new world, you become brothers and sisters. All consciousness of male and female ends. When you become pure in this final birth, you then become the masters of the pure world. You promise yourselves that you will live together like brother and sister, that you will have no vision of vice, that you will caution one another and make progress.
Song: Awaken o brides, awaken! The new dawn is about to break.

Om shanti. You sweetest spiritual children heard the song, and the discus of self-realisation spun in your intellects. The Father too is called Swadarshanchakradhari (Spinner of the discus of self-realisation), because to know the beginning, middle and end of the world means to be a spinner of the discus of self-realisation. No one but the Father can explain these things. Everything for you Brahmins depends on silence. All human beings call Him the Bestower of Peace: “Hey Bestower of Peace!” No one knows who gives peace or who takes us to the land of peace. Only you children know this. Only you Brahmins become swadarshanchakradhari. Deities cannot be called spinners of the discus of self-realisation; there is the difference of day and night. The Father explains to you children: Each of you is a spinner of the discus of self-realisation, numberwise, according to the effort you make. The main thing is to remember the Father. To remember the Father means to claim your inheritance of peace. Everything is included in peace: your lifespan increases and your body becomes free from illness. No one, other than the Father, can make you into swadarshanchakradhari. It is souls that become this. The Father is also this because He has the knowledge of the beginning, middle and end of the world. You also heard in the song that the new world is now being established. These songs have been composed by human beings. The Father sits here and explains the essence of them all. He is the Father of all souls. Therefore, all the children are brothers. When the Father creates the new world, you become brothers and sisters through Prajapita Brahma. Each of you is a Brahma Kumar or Brahma Kumari. When this remains in your intellects, the consciousness of male and female is removed. Human beings don’t understand that we are in fact brothers. Then, when the Father creates creation, we become brothers and sisters and criminal vision ends. The Father also reminds us that we had been calling out: O Purifier come! Now, that I have come, `I tell you to remain pure in this final birth. You will then become the masters of the pure world. Your exhibition pictures should be in every home because you children are Brahmins. You should definitely have these pictures in your homes. It’s very easy to explain using these pictures. The discus of 84 births is in your intellects. OK, a teacher can be sent to you; she can come and do service and leave. You can set up an exhibition. On the path of devotion, when someone doesn’t know anything about worshipping Krishna or any mantras etc., he invites a brahmin priest to come. He would come every day and perform some ceremony. You too can invite someone. This knowledge is in fact very easy. The Father must have created the world through Prajapita Brahma. Therefore, Brahma Kumars and Kumaris must have become brothers and sisters. Each of you promises that you will both live together as brother and sister and that you will not have any vision of vice. You will caution one another and make progress. The main thing is the pilgrimage of remembrance. Those people try so hard to go high up there with the power of science. However, there is no world up there. That is called going into the depths of science. You are now going into the depths of silence on the basis of shrimat. They have science, whereas you have silence. You children know that you souls are yourselves embodiments of silence. You take bodies just to play your parts. No one can live without acting. The Father says: Consider yourselves to be souls, separate from those bodies, and remember the Father and your sins will be absolved. This is very easy. Explain this most of all to My devotees, those who worship Shiva. The most elevated worship of all is that of Shiva because He is the Bestower of Salvation for All. You children know that the Father has now come and that He will take us all back with Him. At the right time, according to the drama, we will reach our karmateet stage and then destruction will take place. A lot of effort has to be made so that we souls become satopradhan. We have to follow the Father’s shrimat. The Gita is called Shrimad Bhagawad Gita. This is great praise. The praise sung of the deities is that they are completely virtuous, completely viceless. The Father Himself comes and makes us completely pure. It is when the world becomes completely impure that the Father comes and makes the world completely pure. Everyone says that they are children of God. Therefore, there definitely has to be the inheritance of heaven. Through Prajapita Brahma, the Father of Humanity, we have now become brothers and sisters. The Father also came in the previous cycle. This is why Shiv Jayanti (birthday of Shiva) is celebrated. You must definitely have become the children of Prajapita Brahma. You promise the Father: Baba, we will live together as companions and lead a pure life. We will follow Your directions. This is not a big thing. This is now your final birth. This world of death is going to end. You have now become sensible. If someone calls himself God, you can say: God is the Bestower of Salvation for All, so how can that one call himself this? However, you understand that that is a play in the drama. The Father is making you children into spinners of the discus of self-realisation. The Father says: Remain busy in service. Start an exhibition in every home. There is no greater act of charity than this. There is no other charity as great as that of showing the way to the Father. The Father says: Remember Me alone and your sins will be absolved. This is why you called out to the Father: O Purifier, Liberator, Guide, come! You are the ones also remembered as Pandavas. The Father is the Guide. He takes all souls back. Those guides are physical whereas that One is the spiritual Guide. Those are physical pilgrimages, whereas this is a spiritual pilgrimage. In the golden age there are no physical pilgrimages of the path of devotion. There, you are worthy of being worshipped. The Father is now making you so sensible. Therefore, you should follow the Father’s directions. should you not? If there are any doubts etc, you should ask. The Father says: Sweetest children, become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember the Father. You are My beloved children, are you not? You have been My lovers for half the cycle. There are many names for just the One. So many names have been given and so many temples have been built. However, I am only One. My name is Shiva. I came into Bharat 5000 years ago and adopted you children. I am now adopting you again. Because you are children of Brahma, you are also grandsons and granddaughters. Here, it is the soul that claims an inheritance. In this, it is not a question of being a brother and sister. It is the soul that studies and claims an inheritance. Everyone has a right to this. Whatever you children can see in this old world, it is all going to be destroyed. There truly is to be the Mahabharat War. The unlimited Father is giving you your unlimited inheritance. He gives us unlimited knowledge. Therefore, there ought to be unlimited renunciation. You know that a cycle ago too, the Father taught you Raj Yoga. This sacrificial fire of self-sovereignty in which the horse is sacrificed had been created. Then, a golden-aged, new world was definitely needed for the kingdom. The old world had been destroyed. It is a matter of 5000 years. It was through this war taking place that the gates to heaven opened. Write on a board: “Come and understand how the door to heaven is opening.” If you cannot explain, then invite others to come and explain. The number of you will then gradually grow. There are many of you Brahmins, children of Prajapita Brahma. The inheritance is received from Shiv Baba. He is the Father of all. Keep it clearly in your intellects that you are becoming deities from Brahmins. We were deities and we then went around the cycle. We have now become Brahmins and we will then go to the land of Vishnu. This knowledge is very easy but only a few out of millions emerge. So many come to the exhibitions, but hardly anyone emerges. Some simply praise it and say it’s very good and that they’ll come. Only a few rare ones come and take the seven days’ course. Now, what is seven days anyway? The Gita is recited over seven days. You also have to be in a bhatthi for seven days. By considering yourself to be a soul and remembering the Father, all the rubbish will be removed from you. You have to remove the dirty sickness of body consciousness that you have accumulated over half the cycle. Become soul conscious! The seven days’ course is not a big one. Some can be pierced by an arrow in just a second. Those who come last can go ahead fast. They would say that they will race and definitely claim the inheritance from the Father. Some even go faster than the older ones because they are now given very good ready-made points. It is so easy to explain the pictures etc. at the exhibitions. If you yourself cannot explain, then invite a sister to come every day and explain. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan 5000 years ago. It continued for 1250 years. It is such a short story. We were deities, then we became warriors, then merchants and then shudras. I, a soul, became a Brahmin. The meaning of “Hum so” (as I was, so I shall become) is explained very accurately. There is the picture of the variety form, but Brahmins and Shiv Baba have been removed from that. No one understands the meaning of that picture at all. You children now have to make effort to have remembrance. You mustn’t have any doubts. If you want to become conquerors of sinful acts and claim an elevated status, then stop thinking about why something happens, or why someone does what he does. Stop all of that and just have the one thought of becoming satopradhan from tamopradhan. To the extent that you remember the Father, to that extent you will become a conqueror of sinful acts and claim an elevated status. As well as that, don’t spoil your head by listening to wasteful things. Above all, the most important thing is not to forget Him. Don’t waste your time with anyone. Your time is very valuable. Don’t be afraid of storms. Many difficulties will come and there may be a loss, but don’t ever forget to have remembrance of the Father. It is by having this remembrance that we have to become pure. We have to claim an elevated status through our own efforts. This old father claims such an elevated status, so why shouldn’t you? This is also a study. You don’t need to pick up any books etc. The full story is in your intellects. It is such a short story; it is a matter of a second. “Liberation-in-life is received in a second.” The main thing is to remember the Father. You forget the Father who is making you into the masters of the world! You say that not everyone will become a king! Ah! But, why do you worry about everyone else? Are they concerned at school that everyone should claim a scholarship? They just start studying. It is understood from each one’s efforts what status each of them will claim. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This time is very valuable. Don’t waste it on useless matters. No matter how many storms come, or whatever loss is incurred, stay in remembrance of the Father.
  2. Just think about changing from tamopradhan to satopradhan. Don’t think about anything else. Understand and explain with tact the short story of “Hum so, so hum”.
Blessing: May you be a satisfied soul who experiences the stage of being ignorant of the knowledge of desire with the intention of being a bestower.
Constantly have the one aim that, as a child of the Bestower. You have to give to all souls. By having the intention of being a bestower, you will become a soul who is full and those who are full are always content. “I am a child of the Bestower, and to give is to receive”. This feeling will make you experience the stage of being constantly free from obstacles and ignorant of the knowledge of desire. Let your vision always be focused the one aim of being a point while seeing the expansion of any situation, see but do not see it and hear about it, do not listen to it.
Slogan: If your intellect or stage is weak, the reason is wasteful thoughts.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी श्रीमत पर साइलेन्स की अति में जाते हो, तुम्हें बाप से शान्ति का वर्सा मिलता है, शान्ति में सब कुछ आ जाता है”
प्रश्नः- नई दुनिया की स्थापना का मुख्य आधार क्या है?
उत्तर:- पवित्रता। बाप जब ब्रह्मा तन में आकर नई दुनिया स्थापन करते हैं तब तुम आपस में भाई-बहन हो जाते हो। स्त्री पुरूष का भान निकल जाता है। इस अन्तिम जन्म में पवित्र बनते हो तो पवित्र दुनिया के मालिक बन जाते हो। तुम अपने आपसे प्रतिज्ञा करते हो हम भाई बहन हो रहेंगे। विकार की दृष्टि नहीं रखेंगे। एक दो को सावधान कर उन्नति को पायेंगे।
गीत:- जाग सजनियां जाग…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना और बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिर गया। बाप भी स्वदर्शन चक्रधारी कहलाते हैं क्योंकि सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जानना – यह है स्वदर्शन चक्रधारी बनना। यह बातें सिवाए बाप के और कोई समझा न सके। तुम ब्राह्मणों का सारा मदार है साइलेन्स पर। सभी मनुष्य कहते भी हैं शान्ति देवा, हे शान्ति देने वाला.. मालूम किसको भी नहीं है कि शान्ति कौन देते हैं वा शान्तिधाम कौन ले जायेंगे। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो, ब्राह्मण ही स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं। देवता कोई स्वदर्शन चक्रधारी कहला न सके। कितना रात दिन का फ़र्क है। बाप तुम बच्चों को समझाते हैं, तुम हर एक स्वदर्शन चक्रधारी हो – नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाप को याद करना है, यही मुख्य बात है। बाप को याद करना गोया शान्ति का वर्सा लेना। शान्ति में सब आ जाता है। तुम्हारी आयु भी बड़ी हो जाती है, निरोगी काया भी बनती जाती है। सिवाए बाप के और कोई स्वदर्शन चक्रधारी बना न सके। आत्मा ही बनती है। बाप भी है क्यों कि सृष्टि के आदि मध्य अन्त का ज्ञान है। गीत भी सुना अब नई दुनिया स्थापन हो रही है। गीत तो मनुष्यों ने ही बनाये हैं। बाप बैठ सार समझाते हैं। वह है सभी आत्माओं का बाप, तो सब बच्चे आपस में भाई-भाई हो जाते हैं। बाप जब नई दुनिया रचते हैं तो प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा तुम भाई बहन हो, हर एक ब्रह्माकुमार कुमारी हैं, यह बुद्धि में रहने से फिर स्त्री पुरूष का भान निकल जाता है। मनुष्य यह नहीं समझते कि हम भी वास्तव में भाई-भाई हैं। फिर बाप रचना रचते हैं तो भाई बहन हो जाते हैं। क्रिमिनल दृष्टि निकल जाती है। बाप याद भी दिलाते हैं, तुम बुलाते आये हो हे पतित-पावन, अब मैं आया हूँ, तुमको कहता हूँ यह अन्तिम जन्म पवित्र रहो। तो तुम पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यह प्रदर्शनी तो तुम्हारे घर-घर में होनी चाहिए क्योंकि तुम बच्चे ब्राह्मण हो। तुम्हारे घर में यह चित्र जरूर होने चाहिए। इन पर समझाना बहुत सहज है। 84 का चक्र तो बुद्धि में है। अच्छा – तुमको एक ब्राह्मणी (टीचर) दे देंगे। वह आकर सर्विस करके जायेगी। तुम प्रदर्शनी खोल दो। भक्ति मार्ग में भी कोई कृष्ण की पूजा अथवा मंत्र जत्र आदि नहीं जानते हैं तो ब्राह्मण को बुलाते हैं। वह रोज़ आकर पूजा करते हैं। तुम भी मंगा सकते हो। यह है तो बहुत सहज। बाप ने प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रची होगी तो जरूर ब्रह्माकुमार कुमारियां बहन भाई बने होंगे। प्रतिज्ञा करते हैं हम दोनों भाई बहन हो रहेंगे, विकार की दृष्टि नहीं रखेंगे। एक दो को सावधान कर उन्नति को पायेंगे। मुख्य है ही याद की यात्रा। वो लोग साइन्स के बल से कितना ऊपर जाने की कोशिश करते हैं, परन्तु ऊपर कोई दुनिया थोड़ेही है। यह है साइन्स की अति में जाना। अभी तुम साइलेन्स की अति में जाते हो, श्रीमत पर। उनकी है साइन्स, यहाँ तो तुम्हारी है साइलेन्स। बच्चे जानते हैं आत्मा तो स्वयं शान्त स्वरूप है। इस शरीर द्वारा सिर्फ पार्ट बजाना होता है। कर्म बिगर तो कोई रह न सके। बाप कहते हैं अपने को शरीर से अलग आत्मा समझ बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बहुत ही सहज है, सबसे जास्ती जो मेरे भक्त अर्थात् शिव के पुजारी हैं, उनको समझाओ। ऊंच ते ऊंच पूजा है शिव की क्योंकि वही सर्व का सद्गति दाता है।

अभी तुम बच्चे जानते हो बाप आये हैं सबको साथ में ले जायेंगे। अपने टाइम पर हम भी ड्रामा अनुसार कर्मातीत अवस्था को पायेंगे फिर विनाश हो जायेगा। पुरूषार्थ बहुत करना है कि हम आत्मायें सतोप्रधान बन जायें। बाप की श्रीमत पर चलना है, श्रीमत भगवत गीता कहते हैं, कितनी बड़ी महिमा है। देवताओं की भी महिमा गाते हैं – सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी….. बाप ही आकर सम्पूर्ण पावन बनाते हैं। जब सम्पूर्ण पतित दुनिया बनती है तब ही बाप आकर सम्पूर्ण पावन दुनिया बनाते हैं। सब कहते हैं हम भगवान के बच्चे हैं तो जरूर स्वर्ग का वर्सा होना चाहिए। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा हम अभी भाई-बहन बने हैं। कल्प पहले भी बाप आया था, शिव जयन्ती मनाते हैं। जरूर प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे बने होंगे। बाप से प्रतिज्ञा करते हैं – बाबा हम आपस में कम्पेनियन हो पवित्र रहते हैं। आपके डायरेक्शन पर चलते हैं। कोई बड़ी बात नहीं है। अभी यह अन्तिम जन्म है, यह मृत्युलोक खत्म होना है। अभी तुम समझदार बने हो। कोई अपने को भगवान कहे, तो कहेंगे भगवान तो सर्व का सद्गति दाता है। यह फिर अपने को कैसे कहला सकते हैं। परन्तु समझते हैं ड्रामा का खेल है।

बाप तुम बच्चों को स्वदर्शन चक्रधारी बना रहे हैं। बाप कहते हैं अब सर्विस में तत्पर रहो। घर-घर में प्रदर्शनी खोलो। इन जैसा महान पुण्य कोई होता नहीं। किसको बाप का रास्ता बताना, इन जैसा दान कोई नहीं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो पाप नाश होंगे। बाप को बुलाते भी इसलिए हो हे पतित-पावन, लिबरेटर, गाइड आओ। तुम्हारा भी नाम पाण्डव गाया हुआ है। बाप भी पण्डा है। सभी आत्माओं को ले जायेंगे। वह हैं जिस्मानी पण्डे। यह है रूहानी। वह जिस्मानी यात्रा, यह रूहानी यात्रा। सतयुग में जिस्मानी यात्रा भक्ति मार्ग की होती नहीं। वहाँ तुम पूज्य बनते हो, अभी बाप तुमको कितना समझदार बनाते हैं। तो बाप की मत पर चलना चाहिए ना। कोई भी संशय आदि हो तो पूछना चाहिए। अब बाप कहते हैं मीठे मीठे बच्चों देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा समझकर बाप को याद करो। तुम मेरे लाडले बच्चे हो ना। आधाकल्प के तुम आशिक हो। एक के ही ढेर नाम रख दिये हैं, कितने नाम, कितने मन्दिर बनाते हैं। मैं हूँ तो एक ही। मेरा नाम है शिव। हम 5 हजार वर्ष पहले भारत में ही आये थे। बच्चों को एडाप्ट किया था। अब भी एडाप्ट कर रहे हैं। ब्रह्मा के बच्चे होने के कारण तुम पोत्रे पोत्रियां हो गये। यहाँ वर्सा ही मिलता है आत्मा को। उसमें भाई बहन का सवाल नहीं उठता। आत्मा ही पढ़ती है, वर्सा लेती है। सबको हक है। तुम बच्चे इस पुरानी दुनिया में जो कुछ देखते हो – यह सब विनाश को पाना है। महाभारत लड़ाई भी बरोबर है। बेहद का बाप बेहद का वर्सा दे रहे हैं। बेहद की नॉलेज सुना रहे हैं। तो त्याग भी बेहद का चाहिए। तुम जानते हो कल्प पहले भी बाप ने राजयोग सिखाया था, राजस्व अश्वमेध यज्ञ रचा था फिर राजाई के लिए सतयुगी नई दुनिया जरूर चाहिए। पुरानी दुनिया का विनाश भी हुआ था। 5 हजार वर्ष की बात है ना। यही लड़ाई लगी थी, जिससे गेट खुले थे। बोर्ड पर भी लिख दो – स्वर्ग के द्वार कैसे खुल रहे हैं – आकर समझो। तुम नहीं समझा सकते हो दूसरे को बुला सकते हो। फिर धीरे-धीरे वृद्धि होती जायेगी। तुम कितने ढेर ब्राह्मण ब्राह्मणियां हो प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे। वर्सा मिलता है शिवबाबा से। वही सबका बाप है। यह तो बुद्धि में अच्छी रीति याद रखना चाहिए – हम ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। हम ही देवता थे फिर चक्र लगाया। हम अभी ब्राह्मण बने हैं फिर विष्णुपुरी में जायेंगे। ज्ञान है – बहुत सहज। परन्तु कोटों में कोई निकलते हैं। प्रदर्शनी में कितने ढेर आते हैं, कोई मुश्किल निकलते हैं, कोई तो सिर्फ महिमा करते हैं बहुत अच्छा है, हम आयेंगे। कोई विरले 7 रोज़ का कोर्स उठाते हैं, 7 रोज़ की भी बात अब क्या है। गीता का पाठ भी 7 दिन रखते हैं। सात दिन तुमको भी भट्टी में पड़ना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से सारा किचड़ा निकल जायेगा। आधाकल्प की गन्दी बीमारी देह-अभिमान की है, वह निकालनी है। देही-अभिमानी बनना है। 7 रोज़ का कोर्स कोई बड़ा थोड़ेही है। किसको सेकेण्ड में भी तीर लग सकता है। देरी से आने वाले आगे जा सकते हैं। कहेंगे हम रेस कर बाप से वर्सा ले ही लेंगे। कई तो पुरानों से भी तीखे चले जाते हैं क्योंकि अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स, तैयार माल मिलता है। प्रदर्शनी आदि समझाने में कितना सहज होता है। खुद नहीं समझा सकते हैं तो बहन को बुलायें। रोज़ आकर कथा करके जाओ। 5 हजार वर्ष पहले इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, जो 1250 वर्ष चला। कितनी छोटी कहानी है। हम सो देवता थे फिर हम सो क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनें। हम आत्मा ब्राह्मण बनी, हम सो का अर्थ कितना युक्तियुक्त समझाते हैं। विराट रूप भी है, परन्तु उसमें ब्राह्मणों को और शिवबाबा को उड़ा दिया है। अर्थ कुछ भी नहीं समझते हैं। अभी तुम बच्चों को मेहनत करनी है, याद की। और कोई संशय में नहीं आना चाहिए। विकर्माजीत बन ऊंच पद पाना है तो यह चिंतन खत्म करना है कि यह क्यों होता है, यह ऐसे क्यों करता है। इन सब बातों को छोड़ एक ही चिंतन रहे कि हमें तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। जितना बाप को याद करेंगे उतना विकर्माजीत बन ऊंच पद पायेंगे। बाकी फालतू बातें सुन अपना माथा खराब नहीं करना है। सब बातों से एक बात मुख्य है – उनको नहीं भूलो। कोई साथ टाइम वेस्ट न करो। तुम्हारा टाइम बहुत वैल्युबुल है। तूफानों से डरना नहीं है। बहुत तकलीफ आयेगी, घाटा पड़ेगा। परन्तु बाप की याद कभी नहीं भूलनी है। याद से ही पावन बनना है, पुरूषार्थ कर ऊंच पद पाना है। यह बाबा बूढ़ा इतना ऊंच पद पाते हैं, हम क्यों नहीं बनेंगे। यह भी पढ़ाई है ना। तुमको इसमें कुछ भी किताब आदि उठाने की दरकार नहीं है। बुद्धि में सारी कहानी है। कितनी छोटी कहानी है। सेकेण्ड की बात है, जीवनमुक्ति सेकेण्ड में मिलती है। मूल बात है बाप को याद करो। बाप जो तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं उनको तुम भूल जाते हो! कहते हैं सब थोड़ेही राजा बनेंगे। अरे तुम सबका चिंतन क्यों करते हो! स्कूल में यह ओना (फिकर) रखते हैं क्या कि सब थोड़ेही स्कॉलरशिप पायेंगे? पढ़ने लग पड़ेंगे ना। हर एक के पुरूषार्थ से समझा जाता है कि यह क्या पद पाने वाले हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह समय बहुत वैल्युबुल है, इसे फालतू की बातों में गंवाना नहीं है। कितने भी तूफान आयें, घाटा पड़े लेकिन बाप की याद में रहना है।

2) तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने का ही चिंतन करना है, और कोई चिंतन न चले। हम सो, सो हम की छोटी सी कहानी बहुत युक्ति से समझनी और समझानी है।

वरदान:- दातापन की भावना द्वारा इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति का अनुभव करने वाले तृप्त आत्मा भव
सदा एक लक्ष्य हो कि हमें दाता का बच्चा बन सर्व आत्माओं को देना है, दातापन की भावना रखने से सम्पन्न आत्मा हो जायेंगे और जो सम्पन्न होंगे वह सदा तृप्त होंगे। मैं देने वाले दाता का बच्चा हूँ-देना ही लेना है, यही भावना सदा निर्विघ्न, इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति का अनुभव कराती है। सदा एक लक्ष्य की तरफ ही नज़र रहे, वह लक्ष्य है बिन्दू और कोई भी बातों के विस्तार को देखते हुए नहीं देखो, सुनते हुए भी नहीं सुनो।
स्लोगन:- बुद्धि वा स्थिति यदि कमजोर है तो उसका कारण है व्यर्थ संकल्प।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

26-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप बागवान है, इस बागवान के पास तुम मालियों को बहुत अच्छे-अच्छे खुशबूदार फूल लाने हैं, ऐसा फूल नहीं लाओ जो मुरझाया हुआ हो”
प्रश्नः- बाप की नज़र किन बच्चों पर पड़ती है, किसके ऊपर नहीं पड़ती है?
उत्तर:- जो अच्छी खुशबू देने वाले फूल हैं, अनेक कांटों को फूल बनाने की सर्विस करते हैं, उन्हें देख-देख बाप खुश होता। उन पर ही बाप की नज़र जाती है और जिनकी वृत्ति गंदी है, आंखे धोखा देती हैं, उन पर बाप की नज़र भी नहीं पड़ती। बाप तो कहेंगे बच्चे फूल बन अनेकों को फूल बनाओ तब होशियार माली कहे जायेंगे।

ओम् शान्ति। बागवान बाप बैठ अपने फूलों को देखते हैं क्योंकि और सब सेन्टर्स पर तो फूल और माली हैं, यहाँ तुम बागवान पास आते हो अपनी खुशबू देने। तुम फूल हो ना। तुम भी जानते हो, बाप भी जानते हैं – कॉटों के जंगल का बीजरूप है रावण। यूं तो सारे झाड़ का बीज एक ही है परन्तु फूलों के बगीचे से फिर काँटों का जंगल बनाने वाला भी जरूर होगा। वह है रावण। तो जज करो बाप ठीक समझाते हैं ना। देवताओं रूपी फूलों के बगीचे का बीजरूप है बाप। तुम अभी देवी-देवता बन रहे हो ना। यह तो हर एक जानते हैं कि हम किस किस्म का फूल हैं। बागवान भी यहाँ ही आते हैं फूलों को देखने। वह तो सब हैं माली। वह भी अनेक प्रकार के माली हैं। उस बगीचे के भी भिन्न-भिन्न प्रकार के माली होते हैं ना। कोई की 500 रुपया तनख्वाह होती, कोई की 1000, कोई की 2000 रुपया। जैसे मुगल गार्डन का माली जरूर बहुत होशियार होगा। उसकी पगार भी अधिक होगी। यह तो बेहद का बड़ा बगीचा है, उसमें भी अनेक प्रकार के नम्बरवार माली हैं। जो बहुत अच्छे माली होते हैं वह बगीचे को बहुत अच्छा शोभनिक बना देते हैं, अच्छे फूल लगाते हैं। गवर्मेन्ट हाउस का मुगल गार्डन कितना अच्छा है। यह है बेहद का बगीचा। एक है बागवान। अब कांटों के जंगल का बीज है रावण और फूलों के बगीचे का बीज है शिवबाबा। वर्सा मिलता है बाप से। रावण से वर्सा नहीं मिलता। वह जैसे श्राप देता है। जब श्रापित होते हैं तो जो सुख देने वाला है उनको सब याद करते हैं क्योंकि वह है सुख दाता, सदा सुख देने वाला। माली भी भिन्न-भिन्न प्रकार के हैं, बागवान आकरके मालियों को भी देखते हैं कि कैसे छोटा-मोटा बगीचा बनाते हैं। कौन-कौन से फूल हैं, वह भी ख्याल में लाते हैं। कभी-कभी बहुत अच्छे-अच्छे माली भी आते हैं, उन्हों के फूलों की सजावट भी अक्सर करके अच्छी हो जाती है। तो बागवान को भी खुशी होती है – ओहो! यह माली तो बड़ा अच्छा है, फूल भी अच्छे-अच्छे लाये हैं। यह है बेहद का बाप और उनकी हैं बेहद की बातें। तुम बच्चे दिल में समझते हो बाबा बिल्कुल सत्य कहते हैं। आधाकल्प चलता है रावण राज्य। फूलों के बगीचे को कांटों का जंगल रावण बना देता है। जंगल में कांटे ही कांटे होते हैं। बहुत दु:ख देते हैं। बगीचे के बीच में कांटे थोड़ेही होते हैं, एक भी नहीं। बच्चे जानते हैं। रावण देह-अभिमान में ले आता हैं। बड़े ते बड़ा कांटा है देह-अभिमान।

बाबा ने रात्रि को भी समझाया किन्हों की दृष्टि कामी रहती है, तो कोई की सेमी कामी दृष्टि है। कोई नये-नये भी आते हैं जो पहले अच्छा-अच्छा चलते हैं, समझते हैं विकार में कभी नहीं जायेंगे, पवित्र रहेंगे। उस समय शमशानी वैराग्य आता है। फिर वहाँ (घर में) जाते हैं तो खराब हो पड़ते हैं। दृष्टि गन्दी हो पड़ती है। यहाँ जिनको अच्छा-अच्छा फूल समझ बागवान के पास ले आते हैं कि बाबा यह बहुत अच्छा फूल है, कोई-कोई माली कान में आकर बताते हैं यह फलाना फूल है। माली तो जरूर बतायेंगे ना। ऐसे नहीं कि बाबा अन्तर्यामी है, माली हर एक की चाल-चलन बताते हैं कि बाबा इनकी दृष्टि अच्छी नहीं है, इनकी चलन रायॅल नहीं है, इनकी 10-20 परसेन्ट सुधरी है। मूल हैं आंखें, जो बहुत धोखा देती हैं। माली आकर बागवान को सब कुछ बतायेंगे। बाबा एक-एक से पूछते हैं बताओ तुमने कैसे फूल लाये हैं? कोई गुलाब के फूल होते हैं, कोई मोतिये के, कोई अक के भी ले आते हैं। यहाँ बहुत खबरदार रहते हैं। जंगल में जाते हैं तो फिर मुरझा जाते हैं। बाबा देखते हैं कि यह किस प्रकार के फूल हैं। माया भी ऐसी है जो मालियों को भी बड़ा जोर से थप्पड़ लगा देती है, जो माली भी कांटे बन पड़ते हैं। बागवान आते हैं तो पहले-पहले बगीचे को देखते हैं, फिर बाप बैठ उनको श्रृंगारते हैं। बच्चे, खबरदार रहो, खामियां निकालते जाओ, नहीं तो फिर बहुत पछतायेंगे। बाबा आये हैं लक्ष्मी-नारायण बनाने, उनके बदले हम नौकर बनें! अपनी जांच की जाती है, हम ऐसा ऊंच लायक बनते हैं? यह तो जानते हो कांटों के जंगल का बीज रावण है, फूलों के बगीचे का बीज है राम। यह सब बातें बाप बैठ बताते हैं। बाबा फिर भी स्कूल की पढ़ाई की महिमा करते हैं, वह पढ़ाई फिर भी अच्छी है, क्योंकि उसमें सोर्स ऑफ इनकम है। एम ऑबजेक्ट भी है। यह भी पाठशाला है, इसमें एम ऑबजेक्ट है। फिर कहाँ भी यह एम ऑबजेक्ट होती नहीं है। तुम्हारी एक ही एम है नर से नारायण बनने की। भक्ति मार्ग में सत्य नारायण की कथा बहुत-बहुत सुनते हैं, हर मास ब्राह्मण को बुलाते हैं, ब्राह्मण गीता सुनाते हैं। आजकल तो गीता सब सुनाते हैं, सच्चा-सच्चा ब्राह्मण तो कोई है नहीं। तुम हो सच्चे-सच्चे ब्राह्मण। सच्चे बाप के बच्चे हो। तुम सच्ची-सच्ची कथा सुनाते हो। सत्य नारायण की कथा भी है, अमरकथा भी है, तीजरी की कथा भी है। भगवानुवाच – मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। वो लोग गीता तो सुनाते आये हैं। फिर कौन राजा बना? ऐसा कोई है जो कहे मैं तुमको राजाओं का राजा बनाऊंगा, मैं खुद नहीं बनूंगा? ऐसा कभी सुना? यह एक ही बाप है जो बच्चों को बैठ समझाते हैं। बच्चे जानते हैं यहाँ बागवान पास रिफ्रेश होने आते हैं। माली भी बनते हैं, फूल भी बनते हैं। माली तो जरूर बनना है। किस्म-किस्म के माली हैं। सर्विस नहीं करेंगे तो अच्छा फूल कैसे बनेंगे? हर एक अपने दिल से पूछे कि मैं किस प्रकार का फूल हूँ? किस प्रकार का माली हूँ? बच्चों को विचार सागर मंथन करना पड़े। ब्राह्मणियाँ जानती हैं – माली भी किस्म-किस्म के होते हैं ना। कोई अच्छे-अच्छे माली भी आते हैं, जिनका बड़ा अच्छा बगीचा होता है। जैसे अच्छा माली तो बगीचा भी अच्छा बनाते हैं। अच्छे-अच्छे फूल ले आते हैं, जो देख दिल खुश हो जाता है। कोई-कोई हल्के फूल ले आते हैं। बागवान समझ जाते हैं यह क्या-क्या पद पायेंगे। अभी तो टाइम पड़ा है। एक-एक कांटे को फूल बनाने में मेहनत लगती है। कोई तो फूल बनना चाहते नहीं, कांटा ही पसन्द करते हैं। आंखों की वृत्ति बहुत गन्दी रहती है। यहाँ आते हैं तो भी उनसे खुशबू नहीं आती। बागवान चाहते हैं मेरे आगे फूल बैठे तो अच्छा है, जिनको देख खुश होता हूँ। देखता हूँ कि वृत्ति ऐसी है तो उस पर नज़र भी नहीं डालते हैं इसलिए एक-एक को देखते हैं, यह मेरे फूल किस प्रकार के हैं? कितनी खुशबू देते हैं? कांटे से फूल बने हैं वा नहीं? हर एक खुद भी समझ सकते हैं कि हम कहाँ तक फूल बने हैं? पुरुषार्थ करते हैं? घड़ी-घड़ी कहते हैं – बाबा, हम आपको भूल जाते हैं। योग में ठहर नहीं सकते हैं। अरे, याद नहीं करेंगे तो फूल कैसे बनेंगे? याद करो तो पाप कटें तब फूल बनकर फिर औरों को भी फूल बनायेंगे, तब माली नाम रख सकते हैं। बाबा मालियों की मांग करते रहते हैं। है कोई माली? क्यों नहीं माली बन सकते हैं? बन्धन तो छोड़ना चाहिए। अन्दर में जोश आना चाहिए। सर्विस का उल्हास रहना चाहिए। अपने पंख आज़ाद करने के लिए मेहनत करनी चाहिए। जिसमें बहुत प्यार है, उनको छोड़ना होता है क्या? बाप की सर्विस लिए जब तक फूल बन औरों को नहीं बनाया है तो ऊंच पद कैसे पायेंगे? 21 जन्मों के लिए ऊंच पद है। महाराजायें, राजायें, बड़े-बड़े साहूकार भी हैं। फिर नम्बरवार कम साहूकार भी हैं, प्रजा भी है। अब हम क्या बनें? जो अभी पुरुषार्थ करेंगे वह कल्प-कल्पान्तर बनेंगे। अभी पूरा जोर देकर पुरुषार्थ करना पड़े। नर से नारायण बनना चाहिए, जो अच्छे पुरुषार्थी होंगे वह अमल करेंगे। रोज़ की आमदनी और घाटे को देखना होता है। 12 मास की बात नहीं, रोज़ अपना घाटा और फ़ायदा निकालना चाहिए। घाटा नहीं डालना चाहिए। नहीं तो थर्ड क्लास बन पड़ेंगे। स्कूल में भी नम्बरवार तो होते हैं ना।

मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं – हमारा बीज है वृक्षपति, जिसके आने से हम पर बृहस्पति की दशा बैठती है। फिर रावण राज्य आता है तो राहू की दशा बैठती है। वह एकदम हाइएस्ट, वह एकदम लोएस्ट। एकदम शिवालय से वेश्यालय बना देते हैं। अभी तुम बच्चों पर है बृहस्पति की दशा। पहले नया वृक्ष होता है। फिर आधा से पुराना शुरू होता है। बागवान भी है, माली भी वृद्धि को पाते रहते हैं। बागवान पास ले आते हैं। हर एक माली फूल ले आते हैं। कोई तो ऐसे अच्छे फूल ले आते हैं, तड़फते हैं बाबा के पास जायें। कैसी-कैसी युक्तियों से बच्चियां आती हैं। बाबा कहते हैं बड़ा अच्छा फूल लाया है। भल माली सेकण्ड क्लास है, माली से फूल अच्छे होते हैं – तड़फते हैं शिवबाबा के पास जायें, जो बाबा हमको इतना ऊंच विश्व का मालिक बनाते हैं। घर में मार खाती हैं तो भी कहती हैं शिवबाबा हमारी रक्षा करो। उनको ही सच्ची द्रोपदी कहा जाता है। पास्ट जो हो गया सो फिर रिपीट होना है। कल पुकारा था ना, आज बाबा आये हैं बचाने के लिए युक्तियां बताते हैं – ऐसे-ऐसे भूं-भूं करो। तुम हो भ्रमरियां, वह हैं कीड़ा। उन पर भूं-भूं करते रहो। बोलो, भगवानुवाच – काम महाशत्रु है, उसको जीतने से विश्व का मालिक बनते हैं। कोई न कोई समय अबलाओं के बोल लग जाते हैं तो फिर ठण्डे हो जाते हैं। कहते हैं – अच्छा, भले जाओ। ऐसा बनाने वाले पास जाओ। मेरी तकदीर में नहीं है तुम तो जाओ। ऐसे द्रोपदियां पुकारती हैं। बाबा लिखते हैं भूं-भूं करो। कोई-कोई स्त्रियां भी ऐसी होती है जिनको सूपनखा, पूतना कहा जाता है। पुरुष उनको भूं-भूं करते हैं, वह कीड़ा बन पड़ती हैं, विकार बिगर रह नहीं सकती। बागवान पास किस्म-किस्म के आते हैं, बात मत पूछो। कोई-कोई कन्यायें भी कांटा बन पड़ती हैं इसलिए बाबा कहते हैं अपनी जन्मपत्री बताओ। बाप को सुनायेंगे नहीं, छिपायेंगे तो वह वृद्धि होती जायेगी। झूठ चल न सके। तुम्हारी वृत्ति खराब होती जायेगी। बाप को सुनाने से तुम बच जायेंगे। सच बताना चाहिए, नहीं तो बिल्कुल महारोगी बन जायेंगे। बाप कहते हैं विकारी जो बनते हैं उनका काला मुंह होता है। पतित माना काला मुंह। कृष्ण को भी श्याम-सुन्दर कहते हैं। कृष्ण को काला बना दिया है। राम को, नारायण को भी काला दिखाते हैं। अर्थ कुछ नहीं समझते हैं। तुम्हारे पास तो नारायण का चित्र गोरा है, तुम्हारी तो यह एम ऑबजेक्ट है। तुमको काला नारायण थोड़ेही बनना है। यह मन्दिर जो बनाये हैं, ऐसे थे नहीं। विकार में गिरने से फिर काला मुंह हो जाता है। आत्मा काली बन गई है। आइरन एज से गोल्डन एज में जाना है। सोने की चिड़िया बनना है। काली कलकत्ते वाली कहते हैं। कितनी भयंकर शक्ल दिखाई देती है। बात मत पूछो। बाप कहते हैं – बच्चे, यह सब है भक्ति मार्ग। अभी तुम्हें तो ज्ञान मिला है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने पंख आज़ाद करने की मेहनत करनी है, बंधनों से मुक्त हो होशियार माली बनना है। कांटो को फूल बनाने की सेवा करनी है।

2) अपने आपको देखना है कि मैं कितना खुशबूदार फूल बना हूँ? मेरी वृत्ति शुद्ध है? आंखे धोखा तो नहीं देती हैं? अपनी चाल-चलन का पोतामेल रख खामियां निकालनी है।

वरदान:- पवित्रता की श्रेष्ठ धारणा द्वारा एक धर्म के संस्कार वाले समर्थ सम्राट भव
आपके स्वराज्य का धर्म अर्थात् धारणा है “पवित्रता”। एक धर्म अर्थात् एक धारणा। स्वप्न वा संकल्प मात्र भी अपवित्रता अर्थात् दूसरा धर्म न हो क्योंकि जहाँ पवित्रता है वहाँ अपवित्रता अर्थात् व्यर्थ वा विकल्प का नाम निशान नहीं होगा। ऐसे सम्पूर्ण पवित्रता के संस्कार भरने वाले ही समर्थ सम्राट हैं। अभी के श्रेष्ठ संस्कारों के आधार से भविष्य संसार बनता है। अभी के संस्कार भविष्य संसार का फाउण्डेशन हैं।
स्लोगन:- विजयी रत्न वही बनते हैं जिनकी सच्ची प्रीत एक परमात्मा से है।

TODAY MURLI 26 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

26/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is the Master of the Garden.You gardeners have to bring very good, fragrant flowers to that Master of the Garden. Do not bring wilted flowers.
Question: On which children does the Father’s vision fall and on whom does it not fall?
Answer: The Father is pleased to see the flowers that give a good fragrance and those who do the service of changing many thorns into flowers: the Father’s vision falls on them. The Father’s vision does not fall on those who have a dirty attitude and those whose eyes are deceitful. The Father says: Children, become flowers and make many others into flowers because only then will you be called clever gardeners.

Om shanti. The Father, the Master of the Garden, sits here and looks at His flowers, because, at the centres, there are flowers and gardeners. Here, you come to the Master of the Garden to give your own fragrance. You are flowers. You know and the Father also knows that the seed of the jungle of thorns is Ravan. In fact, the Seed of the whole tree is only One, but there must definitely be someone who changes the garden of flowers into the jungle of thorns. That one is Ravan. So, now judge whether the things that the Father explains are correct. The Father is the Seed of the flower garden of deities. You are now becoming deities. Each one of you knows what type of flower you are. The Master of the Garden comes to look at the flowers here too. All the rest are gardeners. There are many types of gardener. There are also many varieties of gardener in those gardens (physical). Some are paid 500 rupees, some 1000 rupees and some 2000 rupees. For example, the gardener of the Mughal Garden must be very clever; his salary would be very high. This is an unlimited garden and there are many types of gardener, numberwise. The very good gardeners must make their gardens very beautiful; they plant very good flowers. The Mughal Garden of Government House is very beautiful. This is an unlimited garden and there is the one Master of the Garden. The seed of the jungle of thorns is Ravan and the Seed of the garden of flowers is Shiv Baba. You receive your inheritance from the Father. You do not receive an inheritance from Ravan; it is as though he curses you. When you are cursed, you all remember the One who bestows happiness on you, because He is the Bestower of Happiness, the One who gives constant happiness. There are many varieties of gardener. The Master of the Garden comes to see His gardeners and to see whether they are making small or big gardens. He also keeps in mind which type of flowers they are. Sometimes, very good gardeners come here. The flowers they bring are often a very good decoration. So, the Master of the Garden becomes pleased. Oh! This gardener is very good. He has brought very good flowers. That is the unlimited Father and these are His unlimited matters. You children understand in your hearts that what Baba tells you is the absolute truth. For half a cycle, there is the kingdom of Ravan. It is Ravan who makes the garden of flowers into the jungle of thorns. There is nothing but thorns in the jungle. They cause a great deal of sorrow. There are no thorns in the centre of the garden; there is not even a single one. You children know that Ravan makes you body conscious. The greatest thorn of all is body consciousness. Baba also explained last night that the vision of some is lustful and the vision of others is semi-lustful. There are some new ones who come and they follow this path very well at first and believe that they will never indulge in lust and that they will remain pure. At that time, they have distaste similar to the distaste one experiences at a crematorium. However, when they go back home, they become bad; their vision becomes dirty. You consider many to be very good flowers and bring them here to the Master of the Garden and say: Baba, this one is a very good flower. Some gardeners come here and whisper in Baba’s ear that this one is such-and-such a flower. A gardener will definitely tell his Master of the Garden. It is not that Baba knows the secrets of each one’s heart. You gardeners tell Baba about each one’s behaviour: Baba, that one’s vision is not good. That one’s behaviour is not royal. That one’s vision has reformed by 10 to 20%. Eyes are the main things that deceive you the most. You gardeners come and tell the Master of the Garden everything. Baba asks each of you: Tell Me, what type of flowers have you brought? Some are roses, some are jasmine whereas others bring uck flowers. They remain very cautious here, but when they go back into the jungle, they wilt. Baba sees what type of flower each one is. Maya is such that she slaps the gardeners very hard, so that even the gardeners become thorns. When the Master of the Garden comes, He first looks at the garden. Then He sits and decorates the flowers. He says: Children, remain cautious! Continue to remove your weaknesses. Otherwise, you will have to repent a great deal. Baba has come to make you into Lakshmi and Narayan. Why should we become servants instead of that? You have to check yourself: Am I becoming elevated and worthy? You know that Ravan is the seed of the jungle and that Rama is the Seed of the garden of flowers. The Father sits here and explains all of these things to you. Baba still praises the education at those schools. That education is also good, because you receive a source of income through that and there is also an aim and objective. This too is a school and you too have an aim and objective. At no other places do they have an aim or objective. You have the one aim of changing from an ordinary man into Narayan. On the path of devotion, people listen a great deal to the story of becoming a true Narayan. They invite a brahmin priest once a month to relate the Gita to them. Nowadays, everyone relates the Gita. None of them are true Brahmins. Only you are true Brahmins, children of the true Father. You relate the true story. There is the story of the true Narayan, the story of immortality and the story of the third eye. God speaks: I make you into kings of kings. Those people have been relating the Gita but who became a king? Is there anyone who can say that he will make you into a king of kings and that he himself will not become that? Have you ever heard this before? There is only the one Father who sits and explains this to you children. You children know that you come here to the Master of the Garden in order to be refreshed. You become gardeners as well as flowers. You definitely have to become gardeners. There are many types of gardener. If you don’t do service, how would you become a good flower? Each one of you should ask your own heart what type of flower you are and what type of gardener you are. You children have to churn the ocean of knowledge. You teachers know that there are various types of gardener. Some good gardeners whose gardens are very good and big also come here. If a gardener is good, he also creates a very good garden. He brings such good flowers that the heart becomes pleased on seeing them. Some even bring cheap flowers. The Master of the Garden understands what status they will claim. There is now still some time left. It takes effort to change each thorn into a flower. Some don’t even want to change into a flower; they prefer to remain a thorn. Their attitude, shown by their eyes, remains very dirty. Even when they come here, they have no fragrance in them. The Master of the Garden prefers to have flowers in front of Him. When He sees them, He becomes very pleased. When He see that someone’s attitude is bad, He does not even look at that one. This is why He examines each of you to see what type of flower you are. How much fragrance do you give? Have you changed from a thorn into a flower or not? Each one of you can understand for yourself to what extent you have become a flower and whether you make effort. Some say, again and again: “Baba I forget You! I cannot stay in yoga”. But how can you become a flower if you don’t have remembrance? Remember Baba and your sins will be cut away and you will become a flower and will also be able to make others into flowers. Only then would you be called a gardener. Baba continues to ask for gardeners. Is anyone here a gardener? Why can’t you become a gardener? You have to let go of your bondages. You should have the inner strength and enthusiasm for doing service. You have to make effort to release your wings. Would you leave the person whom you love a great deal? How can you claim a high status unless you become a flower and do the Father’s service of making others into flowers? The high status you claim is for 21 births. There are emperors, kings and even very wealthy subjects. Then, numberwise, there are less wealthy ones and subjects. Now, what should you become? Whatever you become from the effort you make now, you will become that every cycle. You now have to make effort with full force. You have to become Narayan from an ordinary man. Those who are good effort-makers will put everything into practice. You have to check your profit and loss account every day. It is not a matter of doing this every 12 months. You have to check your debit and credit accounts every day. You must not make a loss. Otherwise, you will become third-class. In schools too, all are numberwise. You sweet, sweet children know that the Seed is the Lord of the Tree and that when He comes we experience the omens of Jupiter. Then, when the kingdom of Ravan comes, we experience the omens of Rahu. One is the highest and the other is the lowest. The Temple of Shiva completely changes into a brothel. There are now the omens of Jupiter over you children. At first, the tree is new and then, after half its lifespan, it begins to get old. There is the Master of the Garden and then the number of gardeners also increases. You bring them to the Master of the Garden. Every gardener brings flowers. Some bring such good flowers that they are desperate to come to Baba. Some daughters find clever ways to come. Baba says: You have brought very good flowers. The gardener is secondclass, and the flowers are better than the gardener. They are desperate to come to Shiv Baba, the One who makes them into the elevated masters of the world. Even if they are beaten at home, they ask Shiv Baba to protect them. They are called true Draupadis. Whatever happened in the past has to repeat. Yesterday, you were calling out and, today, Baba has come and is showing you ways in which you can protect yourself. Buzz the knowledge in this way. You are the buzzing moths and they are the insects. Continue to buzz knowledge to them. Tell them that God says: Lust is your greatest enemy. By conquering it, you become the masters of the world. Sometimes, the words of innocent ones strike them so that they cool down and say: OK, you have permission to go. You may go to the One who makes you into such deities. It is not in my fortune, but you may go. The Draupadis call out in this way. Baba writes to them: Buzz this knowledge to them. However, some women are such that they are called Surpankha and Putna (female devils). The men buzz knowledge to them and they become like insects. They cannot stay without vice. Many different types come to the Master of the Garden, don’t even ask! Even some kumaris become thorns. This is why Baba says: Tell Me about your horoscope (the actions you have performed from birth). If you hide it and do not tell the Father, it will increase. You must not lie. Your attitude will continue to get spoilt. However, you will be saved by telling the Father. You should tell the truth; otherwise you will become severely diseased. The Father says: The faces of those who indulge in vice are ugly. To become impure means to make your face dirty. Krishna is called the ugly and the beautiful one. They portray Krishna with a dark blue complexion. They have even portrayed Rama and Narayan as bluish. They do not understand the meaning at all. You have a beautiful picture of Narayan with a fair complexion. That is your aim and objective. You don’t want to become the dark blue Narayan. Narayan is not like the one shown in the temple. By indulging in vice, their faces become ugly. It is souls that become ugly. You have to go from the iron age to the golden age. You have to become golden sparrows. Goddess Kali is remembered as Kali of Calcutta. They have shown such a fearsome form of her, don’t even ask! The Father says: Children, all of that belongs to the path of devotion. You have now received knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make effort to release your wings. Liberate yourself from bondage and become a clever gardener. Do the service of changing thorns into flowers.
  2. Check yourself and see to what extent you have become a fragrant flower. Is your attitude pure? Do your eyes deceive you? Keep a chart of your behaviour and remove your defects.
Blessing: May you imbibe the elevated dharna of purity with the sanskars of one religion and become a powerful emperor.
The religion (dharma) that is, the dharna, of your self-sovereignty is purity. One religion means one dharna. Let there not be any impurity, that is, any other religion even in your thoughts or dreams because where there is purity, there is no name or trace of any impurity, that is, there is nothing wasteful or sinful. Those who fill themselves with such sanskars of complete purity become powerful emperors. The future world is created on the basis of the elevated sanskars you imbibe at the present time. The sanskars you imbibe now are the foundation of the future world.
Slogan: Those who have true love for one God become victorious jewels.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 26 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 June 2018 :- Click Here

26/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort to become bodiless. “Bodiless” means not to have any bodily religion or relationship. Let the soul continue to remember the Father alone.
Question: When will you children have 100% power? What effort must you make for that?
Answer: When you children reach the final moments of running in the race of remembrance, you will have 100% power. The arrow will instantly strike the target when you explain this knowledge to anyone at that time. For this, make effort to become soul conscious. Look in the mirror of your heart to check that all the old accounts have been burnt with remembrance.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop. 

Om shanti. You children know that Alpha (the Father) has now come. There is the praise: We receive liberation-in-life, that is, the sovereignty of heaven, from the Father in a second, because the Father is the Creator of heaven. Liberation-in-life in a second is received from only the Father. Human beings cannot receive it from human beings. As soon as a child is born, he becomes an heir. When someone first comes, you ask that person to fill in a form: Who is the Father of souls? It is said: An embodied soul, a charitable soul. It is not said: Embodied Supreme Soul, Sinful Supreme Soul, Charitable Supreme Soul; no. It is said: a great soul, a charitable soul. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. Therefore, God surely has to come to liberate you from sorrow. So, when people come, first ask them to fill in a form: Who is the Father of you, the soul? Who is the father of the body? There are two separate things: I and mine. I am a soul and this is my body. Where is the place of residence of me, the soul? Who is the Father of you, the soul? It would not be asked: Who is the Father of the Supreme Soul? First of all, you have to know Alpha. He is the Truth , the Ocean of Knowledge. He is the Father of all. No human beings or judges etc. know that they are souls. It is the soul that speaks with the organs of the body: I am a judge, I am a surgeon. Only the one Father makes you soul conscious. You now know that you are souls. All the rest are relatives of your bodies. It is in terms of relationships of bodies that someone is a mother, someone is a father etc. In terms of souls, we are brothers. This has to be explained first. The inheritance of liberation-in-life in a secondis remembered. Who is the One who gives liberation-in-life? In the golden age there is liberation-in-life and in the iron age there is a life of bondage. This too has to be explained. The system here of filling in a form is very good. You children know that the memorial of the Father of us souls is here. That incorporeal One is the Father of us souls. We are corporeal. There is the memorial of the incorporeal One. Therefore, He must also surely have come. He is the One who makes impure ones pure, old ones new. The world changes from new to old. There is just the one world. Therefore, the Creator of the world must definitely be One; there cannot be two of them. God is the Creator. He makes this old world new. The new world that was Bharat was heaven. God is One. The w orld is one. There was the golden age and it is now the iron age. There was ancient Bharat. Therefore, the One who made the world new would have made Bharat new. When people come here for the first time, explain this secret to them: You are a soul. Souls continue to take rebirth. The Father comes and makes you soul conscious. I am a judge, I am a barrister, or, I belong to the Christian religion. All of those are bodily religions. Souls are bodiless and so they don’t have any relationships or religions. A soul by himself becomes karmateet. Then, once again, souls have the relationships of mothers and fathers etc. They change their costumes. They change their part s and have new parents. Souls continue to take rebirth. In fact, souls are incorporeal and reside in the incorporeal world. Then, when a soul adopts a body, he says: This is my name and form. The Father sits here and says to you children: Consider yourselves to be souls. You have to return home. You have played part s for 84 births. You became a barrister ; you became a king. You are now becoming the masters of the world. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, can say this to souls. These things are not in the intellect of anyone else. They say that each soul is the Supreme Soul. The Father comes and explains to you the secrets of the world cycle. You now know that you truly have been around the cycle of 84 births. This is now your final birth and you have to return home. People make effort to go to the land of liberation. I, the soul, am a resident of the land of liberation but, because of having body consciousness, you don’t know this. We souls reside in the incorporeal world. We have come from there to play our part s. All remember God in order to go to God. Therefore, first of all, explain that the soul and the body are two different things. A soul has a mind and intellect in it; he is living. Soul are imperishable. Bodies are perishable. The Father of all souls is that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Knowledge-full One. He alone is called the God of the Gita. All devotees have love for God, the Ocean of Love. He pulls the devotees so much. There can only be one God. There are so many devotees. All are impure. They all remember the Purifier, and so there must be the one incorporeal One. All the rest are His creation. Brahma, Vishnu and Shankar are also a creation. The human world, too, is a creation. The highest-on-high Father is the Resident of the supreme abode. Just as a soul is a star, so the Supreme Father, the Supreme Soul, is a s tar. It has been explained to you children that there is only one world and that it has to repeat. All the religions have to go around the cycle. All actors are playing their part s. No one’s part can be changed. Each part has to be played. First of all, it is essential to explain who the Father of souls is. They say: Oh God, the Father! Who said this? The soul speaks through the body. The Father of souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. This is the main thing. You mustn’t debate with anyone too much. There is liberation-in-life in a second. The Father explains to you children: Children, become soul conscious! At this time, this world is impure. Because of not knowing God , the Father , they have become orphans. In the golden age they experience the reward. There is no need to remember the Father there. People of the world don’t know that the people of Bharat receive this reward from the Father. Bharat becomes heaven. It is Maya (Ravan) that makes it into hell. Bharat has to become old from new. For instance, if a building is going to be 100 years old, it would be said to be old after 50 years. In the same way, the world becomes old from new. Then who will make it new again? How will it repeat? The world was pure. Someone must have made it pure. Only the one Father is the Purifier. He alone would make it pure. Who makes it impure? Who makes it pure? No one can understand this. You now belong to the Father. The Father means the Father. You don’t only half believe or three quarters believe in the Father. However, Maya brings you into body consciousness. All the effort required is in becoming bodiless and belonging to the Father. In fact, Maya is a great enemy. You claim the kingdom with the power of yoga. Only by having remembrance do you receive your inheritance from the Father. The power is that of remembrance alone. The Father says: Forget your body and all bodily relations and remember Me because you have to come back to Me. The golden age is liberation-in-life and the iron age is bondage-in-life. There is the bondage of Ravan, the five vices. It doesn’t exist there. The Father comes and liberates you. You know that there was supreme peace and prosperity in Bharat. It isn’t there now. Therefore, the Supreme Father must surely have established it. He would have come. He comes at the confluence age and makes Bharat liberated-in-life. All the rest of the religions are by-plots. This Bharat is old. When there was the kingdom of deities in new Bharat, there was one religion. That is called heaven. Therefore, when you give the Father’s introduction first, they won’t argue. The Father only tells the truth. Shrimat is from Him. Next are the instructions of Brahma. Brahma definitely receives instructions from the Father. Brahma is now in the night. He was in the day. “The day of Brahma and the night of Brahma” means the day and night of the Brahma Kumars and Kumaris. The night of Prajapita Brahma would also definitely be the night of the children. The Father explains: I come and first of all create Brahmins through the mouth of Brahma. The Brahmin clan is needed. This sacrificial fire has been created. It would not be said to be the sacrificial fire of Krishna. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, this is the rosary of Rudra. Father Shiva created the sacrificial fire at this time. The Father sits here and teaches this. Children, I change you from an ordinary man into Narayan, into kings of kings. This is Raja Yoga. Krishna would not be called God. God teaches Raja Yoga through which you become like Shri Krishna. The main thing is that you children first have to become soul conscious. Otherwise, you won’t be able to strike anyone with an arrow. Only by becoming soul conscious and remembering the Father will you receive power. When you become really strong the arrow will be shot at Bhishampitamai. It has to happen gradually. You now continue to receive power. You have to become 100% by the end. You have to run the race. You are now studying. You will become very strong. You should explain that you are living souls and that God, the Father , is One. Ask those people why they say that the soul is the Supreme Soul. God, the Purifier, is only One. You are the ones who take rebirth. God doesn’t have a body of His own. He is Rudra, Shiva. Human beings cannot be called God. A name is given to the body of a soul. Souls are all the same. Sometimes a soul has the body of a barrister. It isn’t that a soul becomes a dog or a cat etc. The Father says: Beloved children, human beings only become human beings. Animals are a different variety(species). At this time it is as though human beings are worse than animals. Maya has ruined everyone’s life according to the drama. The Father now comes and makes everyone’s life worthwhile. The people of Bharat call God the Mother and Father. People abroad say: O h God, the Father ! Achcha, if He is the Father, the Mother is also needed with Him. They speak of Eve, but who is she? Who has been called Eve? Mama would not be called Eve. Mama is Jagadamba. This one (Brahma) is called Eve because He creates through this one’s mouth and this is why the saying: You are the Mother and Father can be proved. Only the One is called the Mother and Father. There also has to be the mother of Jagadamba. She is also a human. All of these things can be imbibed when you make constant effort to become soul conscious. If there isn’t remembrance, you cannot imbibe these things. Maya is very powerful. If you don’t stay in remembrance, she will continue to punch you. Maya even punches those who have been here for 10 to 12 years. She turns their faces away. They forget and then say that it wasn’t in their fortune. There is the song: I have come having created my fortune. Which fortune did you create when you came? That of marrying Lakshmi. BapDada says: Look in the mirror of your heart: Am I worthy? Have I become as sweet as the Father? The Father says: Become soul conscious! The more you remember Me, the Father, the more you will accumulate. If you don’t remember, you won’t accumulate. It is only with remembrance that the old account will continue to be burnt away. The fire of yoga means remembrance. I, the soul, am remembering God. The Father also says: Have the faith that you are souls and remember Me. It is a mistake to say that souls are the Supreme Soul. God never takes rebirth. You constantly take rebirth. My birth is divine and unique. I enter an ordinary body. Otherwise, where would Brahmins come from? A mature Prajapita Brahma is needed. A young child is not needed. Krishna is a young child. They always show Radhe and Krishna as young. How could so many people call a young child ‘Prajapita’? How could you call Krishna the Mother and Father? The Supreme Father, the Supreme Soul, has now come as the Guide. He will take all souls back with Him. The Father explains very clearly. First of all ask them to fill in a form. The main thing is: Who is the God of the Gita? Who created this sacrificial fire? This is called the sacrificial fire of Rudra or the sacrificial fire of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge, the Father of all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become soul conscious, renounce bodily religions and make it firm that we souls are brothers. Become as sweet as the Father.
  2. Become soul conscious and give the Father’s introduction. You receive the inheritance of liberation-in-life from the Father in a second. You must never debate with anyone.
Blessing: May you finish obstacles with zeal and enthusiasm and become a close jewel who is equal to the Father.
The zeal and enthusiasm that children have of being close jewels equal to the Father and to give the proof of being a worthy child is the basis of the flying stage. This enthusiasm finishes many types of obstacles that come and helps you to become complete and perfect. The pure and determined thought of zeal and enthusiasm becomes a particularly powerful weapon to make you victorious. Therefore, always have zeal and enthusiasm and the means for this flying stage in your heart.
Slogan: Just as a tapaswi soul always sits on a special seat, in the same way, you also have to remain seated on the seat of a constant and stable stage.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 June 2018

To Read Murli 25 June 2018 :- Click Here
26-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अशरीरी बनने की मेहनत करो, अशरीरी अर्थात् कोई भी दैहिक धर्म नहीं, सम्बन्ध नहीं, अकेली आत्मा बाप को याद करती रहे”
प्रश्नः- तुम बच्चों में 100 परसेन्ट बल कब आयेगा, उसका पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- तुम बच्चे जब याद की दौड़ी लगाते अन्तिम समय पर पहुँचेंगे, तब 100 परसेन्ट बल आ जायेगा, उस समय किसको भी समझायेंगे तो फौरन तीर लग जायेगा। इसके लिए देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करो, अपने दिल दर्पण में देखो कि पुराने सब खाते याद द्वारा भस्म किये हैं!
गीत:- तू प्यार का सागर है… 

ओम् शान्ति। अब बच्चे जानते हैं, अल्फ (बाप) आया हुआ है। गायन भी है ना – बाप से एक सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति अर्थात् स्वर्ग की बादशाही मिलती है क्योंकि बाप है स्वर्ग का रचयिता। सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति बाप से ही मिलती है। मनुष्य को मनुष्य से नहीं मिलती। बच्चा पैदा हुआ और वारिस बना। पहले-पहले जब कोई आते हैं तो उनसे फॉर्म भराया जाता है कि आत्मा का बाप कौन है? कहा भी जाता है जीवात्मा, पुण्य आत्मा…..। ऐसे नहीं कहा जायेगा – जीव परमात्मा, पाप परमात्मा, पुण्य परमात्मा। नहीं, महात्मा, पुण्यात्मा कहा जाता है। गाया भी जाता है आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल…. तो जरूर परमात्मा को ही आना है दु:ख से लिबरेट करने। तो पहले-पहले कोई आये तो उनसे फॉर्म भराया जाता है – तुम्हारी आत्मा का बाप कौन है? शरीर का बाप कौन है? दो चीज अलग-अलग हैं – मैं और मेरा। मैं आत्मा, मेरा शरीर। अहम् आत्मा का रहने का स्थान कहाँ है? फिर तुम्हारी आत्मा का बाप कौन है? ऐसे नहीं कहा जायेगा परमात्मा का बाप कौन है? पहले अल्फ को जानना है। वह है ट्रूथ। ज्ञान का सागर। वह सबका बाप है। कोई मनुष्य, जज आदि को भी पता नहीं कि हम आत्मा हैं। आत्मा ही शरीर के आरगन्स द्वारा कहती है – मैं जज हूँ, मैं सर्जन हूँ। आत्म-अभिमानी एक बाप ही बनाते हैं। अभी तुम जानते हो हम आत्मा हैं। बाकी यह सब शरीर के सम्बन्ध हैं। शरीर के सम्बन्ध में भी यह माँ, यह बाप…. लगते हैं। आत्मा के सम्बन्ध में भाई-भाई हैं। पहले तो यह समझाना चाहिए। गाया भी जाता है सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा। जीवन्मुक्ति कौन देने वाला है? सतयुग में है जीवन्मुक्ति, कलियुग में है जीवनबन्ध। यह भी समझाना पड़े। तो यहाँ फार्म भराने का कायदा बड़ा अच्छा है।

तुम बच्चे जानते हो हम आत्माओं के बाप का यहाँ यादगार है। वह निराकार हम आत्माओं का बाप है। हम साकार हैं। निराकार का भी यादगार है। तो जरूर आया होगा ना। पतित को पावन बनाने वाला, पुराने को नया बनाने वाला। दुनिया नई से फिर पुरानी होती है। दुनिया एक ही है। जरूर दुनिया का रचयिता एक होगा, दो नहीं हो सकते। गॉड इज क्रियेटर। वह पुरानी दुनिया को नया बनाते हैं। नई दुनिया अथवा भारत स्वर्ग था। गॉड इज वन। वर्ल्ड इज वन। सतयुग था, अब कलियुग है। प्राचीन भारत था तो जरूर नई दुनिया रचने वाले ने भारत को नया बनाया है। पहले जब कोई आते हैं तो उनको यह राज़ समझाना है। तुम आत्मा हो, आत्मा पुनर्जन्म लेती रहती है। बाप आकर देही-अभिमानी बनाते हैं। मैं जज हूँ, बैरिस्टर हूँ अथवा मैं क्रिश्चियन धर्म का हूँ। यह सब शरीर के धर्म हैं। आत्मा अशरीरी है तो कोई सम्बन्ध नहीं है। कोई धर्म नहीं है। आत्मा अलग कर्मातीत हो जाती है। फिर नये सिर माँ-बाप आदि सम्बन्ध बनते हैं। चोला बदला, पार्ट बदला, माँ-बाप सब नये बन जाते हैं। आत्मा पुनर्जन्म लेती रहती है। वास्तव में आत्मा निराकार है, निराकारी दुनिया में रहती है। फिर आत्मा शरीर धारण करती है तो कहते हैं यह मेरा नाम रूप है। अब बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – तुम अपने को आत्मा समझो। तुमको वापिस जाना है। तुमने 84 जन्मों का पार्ट बजाया, तुम बैरिस्टर बने, राजा बने। अब तुम विश्व के मालिक बनते हो। आत्माओं से बात परमपिता परमात्मा ही कर सकते हैं। यह बातें कोई की बुद्धि में नहीं हैं। वह तो कह देते आत्मा सो परमात्मा है। बाप आकर सृष्टि के चक्र का राज़ समझाते हैं। अभी तुम जानते हो कि बरोबर हमने 84 जन्मों का चक्र लगाया है। अब यह अन्तिम जन्म है, वापस घर जाना है। मनुष्य कोशिश भी मुक्तिधाम में जाने की करते हैं। हम आत्मा मुक्तिधाम की रहवासी हैं। परन्तु देह-अभिमान होने के कारण जानते नहीं। हम आत्मा निराकारी दुनिया में रहते हैं। वहाँ से आये हैं पार्ट बजाने। अब भगवान को याद करते हैं, भगवान के पास जाने के लिए। तो पहले-पहले यह समझाना है – आत्मा और शरीर दो चीज़ें हैं। आत्मा में मन-बुद्धि है, चैतन्य है। आत्मा अविनाशी है। शरीर तो विनाशी है। सब आत्माओं का बाप वह निराकार परमपिता परमात्मा है नॉलेजफुल। उनको ही गीता का भगवान कहा जाता है। सब भक्तों का प्यार है, प्यार के सागर परमात्मा से। भक्तों को कितना खैंचते हैं। भगवान तो एक होना चाहिए। इतने सब भक्त हैं। सभी पतित हैं। पतित-पावन को याद करते हैं, तो जरूर एक निराकार होगा ना। बाकी सब उनकी रचना हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी रचना हैं। मनुष्य सृष्टि भी रचना है। ऊंच ते ऊंच बाप परमधाम का रहने वाला है। जैसे आत्मा स्टार है, वैसे परमपिता परमात्मा भी स्टार है।

बच्चों को समझाया है वर्ल्ड भी एक है, उनको रिपीट करना है। जो भी धर्म हैं सबको चक्र लगाना है। सब एक्टर पार्टधारी हैं। कोई का भी पार्ट बदल नहीं सकता। तो पार्ट बजाना ही है। पहले-पहले यह समझाना बहुत जरूरी है कि आत्मा का बाप कौन है? कहते हैं ओ गॉड फादर। यह किसने कहा? आत्मा शरीर द्वारा बोलती है। आत्मा का बाप परमपिता परमात्मा है। यह है मुख्य बात। तुम्हें कोई से जास्ती डिबेट आदि नहीं करनी है। है ही सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति। बाप बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, तुम देही-अभिमानी बनो। इस समय यह पतित दुनिया है, गॉड फादर को न जानने कारण आरफन बन पड़े हैं। सतयुग में तो प्रालब्ध भोगते हैं। वहाँ बाप को याद करने की कोई दरकार ही नहीं। दुनिया को यह पता नहीं कि भारतवासियों को बाप से प्रालब्ध मिलती है। भारत स्वर्ग बन जाता है। नर्क बनाने वाली है माया (रावण)। भारत को नये से फिर पुराना होना ही है। समझो मकान की आयु 100 वर्ष होगी तो 50 वर्ष के बाद पुराना कहेंगे। वैसे दुनिया नये से पुरानी बनती है। फिर नई कौन बनायेंगे? रिपीट कैसे होती है? दुनिया पावन थी, किसने तो बनाया होगा। पतित-पावन एक ही बाप है। वही पावन बनायेंगे। पतित कौन बनाते हैं? पावन कौन बनाते हैं? यह कोई भी समझ नहीं सकते। अभी तुम बाप के बने हो। बाप माना बाप। बाप को आधा पौना थोड़े-ही माना जाता है। परन्तु माया देह-अभिमान में ले आती है। मेहनत सारी अशरीरी बन बाप को याद करने में है। नहीं तो माया बड़ी दुश्मन है। याद के बल से ही तुम राज्य लेते हो। याद द्वारा ही तुम बाप से वर्सा लेते हो। याद का ही बल है। बाप कहते हैं देह सहित सभी सम्बन्धों को भूल मेरे को याद करो क्योंकि मेरे पास वापिस आना है। सतयुग है जीवन्मुक्त, कलियुग है जीवन बन्ध। पाँच विकारों रूपी रावण का बन्धन है। वहाँ यह होता नहीं। बाप आकर लिबरेट करते हैं।

तुम जानते हो – भारत में सुप्रीम पीस-प्रासपर्टी थी। अब नहीं है। तो जरूर सुप्रीम फादर ने स्थापन किया होगा। आया होगा। संगम पर आकर भारत को जीवन्मुक्त बनाते हैं। बाकी सब धर्म तो बाइप्लाट्स हैं। यह भारत ओल्ड है। नये भारत में देवी-देवताओं का राज्य था, एक धर्म था। उसको स्वर्ग कहा जाता है। तो पहले-पहले बाप का परिचय देने से फिर आरग्यू नहीं करेंगे। बाप तो सत ही बताते हैं। उनकी है श्रीमत। नेक्स्ट है ब्रह्मा की मत। जरूर बाप से ब्रह्मा को मत मिलती है। ब्रह्मा अब रात में है। दिन में था। ब्रह्मा का दिन और रात तो ब्रह्माकुमार और कुमारियों का भी दिन और रात। प्रजापिता ब्रह्मा की रात तो जरूर बच्चों की भी रात होगी। बाप समझाते हैं मैं आता हूँ, ब्रह्मा के मुख से पहले-पहले ब्राह्मणों को रचता हूँ। ब्राह्मण वर्ण चाहिए। यह यज्ञ रचा है ना। कृष्ण यज्ञ नहीं कहेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र माला। बाप शिव ने इस समय यज्ञ रचा है। यह बाप बैठ पढ़ाते हैं। बच्चे, हम तुमको नर से नारायण, राजाओं का राजा बनाता हूँ। यह है राजयोग। कृष्ण को परमात्मा नहीं कहेंगे। परमात्मा राजयोग सिखाते हैं जिससे तुम श्रीकृष्ण के समान बनते हो। मुख्य बात है पहले-पहले बच्चों को देही-अभिमानी बनना है। नहीं तो किसको तीर लगा नहीं सकेंगे। देही-अभिमानी हो बाप को याद करने से ही बल मिलेगा। जब तुम अच्छी रीति पहलवान हो जायेंगे तो भीष्म पितामह आदि को बाण लगेंगे। धीरे-धीरे होना है। अभी तुम्हारे में बल आता जाता है। अन्त तक 100 परसेन्ट बनना है। दौड़ी लगानी है। अभी तुम पढ़ रहे हो। बहुत पहलवान हो जायेगे। समझाना चाहिए तुम तो जीव आत्मा हो, परमात्मा तो फादर एक है। फिर तुम लोग आत्मा सो परमात्मा क्यों कहते हो? पतित-पावन परमात्मा तो एक ही है। तुम तो पुनर्जन्म लेने वाले हो। परमात्मा को तो अपना शरीर नहीं है। वह है रुद्र शिव। मनुष्य को परमात्मा कह नहीं सकते। आत्मा के शरीर का नाम पड़ता है। आत्मा तो सबकी एक जैसी है। कहाँ आत्मा ने बैरिस्टर का शरीर लिया है। बाकी ऐसे नहीं आत्मा कुत्ता, बिल्ली आदि बनती है। बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, मनुष्य, मनुष्य ही बनते हैं। जानवरों की वैराइटी अलग है। इस समय मनुष्य जैसे जानवर से भी बदतर हैं। माया ने खाना खराब कर दिया है ड्रामा अनुसार, अब बाप आकर खाना आबाद करते हैं।

परमात्मा को मात-पिता भी भारतवासी कहते हैं। बाहर वाले कहते हैं ओ गॉड फादर। अच्छा, फादर है तो साथ में मदर भी होनी चाहिए। ईव कहते हैं। परन्तु वह कौन है? ईव किसको कहा जाये? मम्मा को ईव नहीं कहेंगे। मम्मा तो जगदम्बा है। ईव इनको (ब्रह्मा) ही कहेंगे क्योंकि इनके मुख द्वारा रचे, तब तो तुम मात-पिता सिद्ध हो। एक को ही मात-पिता कहा जाता है। जगत अम्बा की भी माँ होनी चाहिए। वह भी ह्यूमन है। यह सब बातें धारण तब हों, जब निरन्तर देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करे। याद नहीं तो धारणा हो नहीं सकती। माया बड़ी जबरदस्त है, याद नहीं करेंगे तो घूंसा मारती रहेगी। दस-बारह वर्ष वाले को भी माया घूंसा मार देती है। मुंह फिरा देती है। भूल जाते हैं। फिर कहते हैं तकदीर में नहीं था। गीत है ना – आये हैं तकदीर बना करके.. कौनसी तकदीर बनाकर आये हो? लक्ष्मी को वरने की। बापदादा कहते हैं दिल दर्पण में देखो – तुम लायक हो? बाप मिसल मीठे बने हो? बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। जितना मुझ बाप को याद करेंगे, उतना जमा होगा। याद नहीं करेंगे तो जमा नहीं होगा। याद से ही पुराना खाता भस्म होता जायेगा। योग अग्नि माना याद। अहम् आत्मा परमात्मा को याद करती हैं। बाप भी कहते हैं अपने को आत्मा निश्चय कर मुझे याद करो। आत्मा सो परमात्मा कहना भूल है। परमात्मा कभी पुनर्जन्म नहीं लेते हैं। तुम तो सदा पुनर्जन्म लेते हो। मेरा जन्म दिव्य अलौकिक है। मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। नहीं तो ब्राह्मण कहाँ से आयें। प्रजापिता ब्रह्मा भी बुजुर्ग चाहिए। छोटा बच्चा तो नहीं चाहिए। कृष्ण तो छोटा बच्चा है। राधे-कृष्ण को छोटा ही दिखाते हैं। छोटे बच्चे को इतने सब प्रजापिता कैसे कह सकते हैं। तुम मात-पिता कृष्ण को कैसे कहेंगे। अभी परमपिता परमात्मा गाइड बनकर आया है, सब आत्माओं को ले जायेंगे। बाप तो अच्छी रीति समझाते हैं। पहले-पहले फॉर्म भराओ। मूल बात है गीता का भगवान कौन है? यह यज्ञ किसने रचा? रुद्र यज्ञ वा ज्ञान यज्ञ कहेंगे। परमात्मा तो है ज्ञान सागर, सबका फादर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देही-अभिमानी बन, देह के सब धर्म भूल हम आत्मा भाई-भाई हैं – यह पक्का करना है। बाप मिसल मीठा बनना है।

2) देही-अभिमानी बन बाप का परिचय देना है। सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा बाप से मिलता है। डिबेट किससे भी नहीं करनी है।

वरदान:- उमंग-उत्साह द्वारा विघ्नों को समाप्त करने वाले बाप समान समीप रत्न भव
बच्चों के दिल में जो उमंग-उत्साह है कि मैं बाप समान समीप रत्न बन सपूत बच्चे का सबूत दूँ – यह उमंग-उत्साह उड़ती कला का आधार है। यह उमंग कई प्रकार के आने वाले विघ्नों को समाप्त कर सम्पन्न बनने में सहयोग देता है। यह उमंग-उत्साह का शुद्ध और दृढ़ संकल्प विजयी बनाने में विशेष शक्तिशाली शस्त्र बन जाता है इसलिए दिल में सदा उमंग-उत्साह को वा इस उड़ती कला के साधन को कायम रखना।
स्लोगन:- जैसे तपस्वी सदा आसन पर बैठते हैं ऐसे आप एकरस अवस्था के आसन पर विराजमान रहो।
Font Resize