daily murli 26 july

TODAY MURLI 26 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 July 2020

26/07/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/02/86

The spiritual army that is victorious every cycle.

All of you, who are part of the spiritual Shakti Army, the Pandava Army, the spiritual army, always have the faith and intoxication of victory, do you not? When any other army goes into battle, they do not have a guarantee of victory. They do not have the faith that victory is guaranteed. However, you, the spiritual army, the Shakti Army, constantly have the intoxication of the faith that, not only are you victorious at this time, but that you are victorious cycle after cycle. On the path of devotion you listened to the stories of your victory in the previous cycle. Even now, you hear stories of the victory of the Pandavas. You are even now seeing the pictures of your victory, except that, they have portrayed you in devotion as violent instead of non-violent. They have shown the spiritual army as a physical, regular army. You are pleased when you hear the praise of your victory from your devotees even now. It is also remembered: Those whose intellects have love for God are victorious whereas those whose intellects have no love for God are led to destruction. So, your memorial of the previous cycle is so well known. Because victory is guaranteed, you are the victorious ones whose intellects have faith. This is why the rosary is also called the rosary of victory. So, you have both faith and intoxication. If anyone were to ask you, you would say with faith that victory is already accomplished. There cannot be a thought, even in your dreams, as to whether you will have victory or not; it is already accomplished. You know the past cycle and also the future. You become trikaldarshi and speak with that intoxication. All of you are firm in this, are you not? If someone were to ask you to think about it, what would you say? That you have already seen it many times. If it were something new, you would think about it. This is something that has happened many times and you are simply repeatingit. So, you are such knowledgeable and yogi souls whose intellects have faith, are you not?

Today, it is the turn of the group from Africa. In fact, everyone is a resident of Madhuban at this time. Your permanent address is Madhuban, is it not? Those places are just your service places. A service place is your office, but your home is Madhuban. You have gone to Africa, the UK etc., in all four directions, for the sake of serving. Even if you have changed your religion and your country, you have only gone there to do service. Which home do you remember? Madhuban or the supreme abode? While serving at your service places, you always only remember Madhuban and the murli, do you not? You have gone to Africa for the sake of serving, have you not? Doing service made you into the Ganges of knowledge. By bathing in the knowledge of the Ganges of knowledge, you have become pure today. Seeing the children do service at the various places, BapDada wonders at how the children who have gone to such places for serving are staying there without fear and with a lot of love. The atmosphere and way of life in Africa are different, but you still stay there to do service. You continue to receive power from doing service. You receive the practical visible fruit of service and that power makes you fearless. You are never afraid, are you? The first official invitation came from Africa. Because of receiving an invitation to serve abroad, you reached other such countries too. The foundation of service by invitation began in Africa. The children there have shown the practical, visible fruit of zeal and enthusiasm for serving. Credit goes to the one instrument soul who has been able to make the hidden jewels emerge. So much expansion has now taken place. That instrument soul hid away and you were revealed. Because of an invitation, you claimed a number ahead. So, BapDada calls those from Africa, the ones who receive thanks. It is the place for receiving thanks because the atmosphere there is impure. Growth is taking place in an impure atmosphere. This is why BapDada says thanks.

Both the Shakti Army and the Pandava Army are powerful. The majority of you is of Indians, but, you became distant from India, and so, even though you are at a distance, you cannot let go of your right. You received the Father’s introduction there; you became the Father’s. It didn’t take any effort in Nairobi. The ones who had become separated came back easily and this is a special sanskar of the Gujaratis. It is their system that they all perform the special dance together; they don’t do it alone. Whether physically small or large, everyone definitely performs this special garba dance together. This is a sign of the gathering. In service too, it has been seen that the Gujaratis go in groups. When one comes, he definitely brings ten others. They have this good system of gathering together. This is why there is quick expansion. There is growth and expansion in service. To give the power of peace to such places, to give happiness instead of fear is elevated service. There is a need for this at such places. You are world benefactors and so service has to increase everywhere in the world and you have to become the instruments for that. If any corner is left out, a complaint will be received. It is good. Children who have courage receive help from the Father. Hands also emerge there to do service there. This is also co-operation. You yourselves have awakened and that is very good, but you have also become instruments to awaken others, and so that is double benefit. Generally, the hands are from there too. This is a good speciality. In service abroad, the majority emerges from there and then they become instruments for service there. The lands abroad have not given Bharat hands. Bharat has given hands to the lands abroad. Bharat is also very big. There are separate zones. It is Bharat that has to be made into heaven. The lands abroad will become picnic spots. So, all of you are everready, are you not? If anyone were to be sent somewhere today, you would be everready, would you not? When you maintain courage, you also receive help. You should definitely remain everready. Then, when such a time comes, an order will have to be given. There will be an order from the Father. He will not tell you the date when He will do that. If He were to give you the date, everyone would pass and become number one. Here, there will suddenly be the one question of the date. You are everready, are you not? If Baba were to tell you just to stay here, would you remember your children, your home etc? There are the facilities of happiness and comfort there, but heaven will be created here. So, to remain constantly everready is the speciality of Brahmin life. Let the line of your intellects remain clear. The Father has given the places just for the sake of service. So, you have become engaged in serving as instruments. Then, when you receive the Father’s signal, there will be no need to think about anything. You are doing good service according to directions. This is why you are detached and loving to the Father. There has also been good expansion in Africa. Good service of VIPs is taking place. There is also a good connection with the Government. There is the speciality that a connection with souls from all fields will definitely bring someone or other close at some point. Today, they are in connection and tomorrow, they will have a relationship with you. You have to continue to awaken them. Otherwise, they open their eyes a little and then go back to sleep; they are kumbhakarnas. When there is the intoxication of sleep, you eat or drink something and then forget. Kumbhakarna is also like that. They say, “Yes, I will come again, I will do that.” Then, when you ask them later, they say that they don’t remember anything. Therefore, they have to be woken up again and again. Gujaratis have claimed a good number in belonging to the Father and busying themselves in serving with their bodies, minds and wealth. They easily become co-operative. That too is fortune. The number of Gujaratis is good. To win the lotteryof belonging to the Father is no small thing!

At every place, there are jewels who have become separated from the Father. Wherever you set foot, someone or other emerges there. When you move forward in serving with love, while remaining carefree and fearless, you definitely receive multimillion-fold help. The official invitations began from there. So, at least that has been accumulated in service. That account of accumulation will definitely pull them at the right time. So, all of you are number one intense effort-makers who receive congratulations. Number one in fulfilling a relationship, number one in showing the proof of service; you have to become number one in everything. Only then will you receive congratulations. You will then continue to receive congratulations on top of congratulations. Seeing everyone’s courage, BapDada is pleased. You have become instruments to give many souls the Father’s support. There are very good whole families. Baba calls a family a bouquet. This too is a good speciality. In fact, all are places of Brahmins. Anyone who goes to Nairobi or anywhere else would say: It is our centre, it is Baba’s centre. It is our family. Therefore, you are so lucky. BapDada is very pleased to see every jewel. No matter what place you belong to, you belong to the Father and the Father belongs to the children. This is why Brahmin souls are deeply loved. They are special. Each of you is more loved than the next. Achcha.

Serve everyone with your spiritual personality (elevated versions selected from avyakt murlis)

In the whole cycle no one has such a spiritual personality as you Brahmins do. This is because the One who creates your personality is the Highest on High, the Supreme Soul, Himself. You greatest personalities of all have complete purity in your thoughts and dreams. Together with this purity, you personalities have spirituality on your faces and in your activities. When you personalities are constantly stable in this purity, you become able to serve everyone naturally. The sparkle of your spiritual personality or your glance of happiness would make any distressed or peaceless souls happy. They will be able to go beyond with just your glance. According to the closeness of time, it is now the time to serve others by taking them beyond with a glance. They will become happy and satisfied with just one glance from you, because all their hearts’ desires will be fulfilled.

All of you were attracted by the personality of Father Brahma’s face and character. Follow the father in the same way. Let the whole list of all your attainments emerge in your intellects and your personality of happiness will be visible on your faces and in your behaviour. This personality will attract everyone. In order to serve through your spiritual personality, always keep your mood careful and cheerful. No matter what has happened, your mood must remain cheerful. No matter what the problem is, you must find a way to resolve it. Constantly maintain your personality of happiness and contentment. You will have very good experiences by remaining satisfied. Everyone likes to be in the company of happy and content souls; they like to sit with them and talk to them. So, aim to stay happy and content and have no more questions.

Externally, you children appear to be an ordinary (in terms of position) personality but internally, you have the foremost spiritual personality. Your personality of purity can be seen on your faces and in your behaviour. To the extent that you are pure, not only do others see your personality, but they also experience it, and so your personality of purity serves everyone. The eyes of the greatest personalities are never attracted by anything because such personalities are completely full of all attainments. Because their treasure-store of all attainments is constantly overflowing, their minds never experience a lack of anything but are always happy and content. Only such contented souls can make others content.

Depending on how much purity you have, you have the personality of Brahmin life to the same extent. If there is less purity, then the personality too is less. This personality of purity easily makes service successful. However, if there is even the slightest trace of one of the vices, then its companions will definitely join in. Just as purity is deeply connected to peace and happiness, so too, impurity is deeply connected to all five vices. When not even the slightest trace of vice remains within you, it would be said that you serve others with your personality of purity.

Nowadays, in the world outside, there are two types of personality: physical personality and the personality of some position. However, in Brahmin life, Brahmin souls whose greatness of contentment is visible on their faces and in their features, reveal the personality of their elevated status and contentment. The tapaswis whose spiritual personality of contentment is visible in their behaviour, faces and eyes are constantly happy inside. Because their minds and hearts are constantly calm, they remain in their stage of happiness and never become restless. They enable others to experience royalty and a spiritual personality with their every word, act, glance and attitude.

The top personalities of the world are special and great souls. The speciality of your personality of purity is that every action you do is filled with greatness. You souls with this spiritual personality do not waste your energy, time or thoughts, but use everything in a worthwhile way. You souls with such a personality never allow trivial matters to busy your minds or intellects. The drishti, attitude and words of you special souls with your special personality of purity is always uniquely spiritual and not ordinary. Even whilst performing ordinary tasks, you enable others to experience the stage of a powerful karma yogi. Whether Father Brahma was cutting vegetables or playing games with the children, you saw how his personality was constantly attractive. Therefore, follow the father.

The personality of Brahmin life is happiness. Experience this personality and enable others to experience it. Remain completely full of good wishes and have good wishes for everyone and serve them with your loving co-operation. Only such souls with good wishes can constantly keep their personality of happiness, and become special personalities in front of the world. Nowadays, only special personalities become famous, which means that their names are glorified, whereas you special, spiritual personalities are not only famous; you are not just famous, you are not just worthy of praise, but you also become worthy of being worshipped. No matter how famous the great personalities of today have become in the areas of science, government or religion, they do not become worthy of being worshipped for 63 births as you souls with your spiritual personality are.

Blessing: May you remain constantly full by remaining set on the seat of an elevated stage with the awareness of your combined form.
At the confluence age, when you stay in the awareness of the combined form of Shiv and Shakti, every impossible task becomes possible for you. This is the most elevated form. By remaining stable in this form, you receive the blessing of being complete. BapDada always gives all the children the seat of a stage that gives happiness. Remain constantly set on this seat and you will continue to swing in the swings of supersensuous joy. Simply finish the sanskar of forgetting.
Slogan: With your powerful attitude, make souls worthy and yogi.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-07-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-02-86 मधुबन

रूहानी सेना कल्प-कल्प की विजयी

सभी रूहानी शक्ति सेना, पाण्डव सेना, रूहानी सेना सदा विजय के निश्चय और नशे में रहेते है न, और कोई भी सेना जब लड़ाई करती है तो विजय की गैरन्टी नहीं होती है। निश्चय नहीं होता कि विजय निश्चित ही है। लेकिन आप रूहानी सेना, शक्ति सेना सदा इस निश्चय के नशे में रहते कि न सिर्फ अब के विजयी है लेकिन कल्प-कल्प के विजयी हैं। अपने कल्प पहले के विजय की कथायें भी भक्ति मार्ग में सुन रहे हो। पाण्डवों के विजय की यादगार कथा अभी भी सुन रहे हो। अपने विजय के चित्र अब भी देख रहे हो। भक्ति में सिर्फ अहिंसक के बजाए हिंसक दिखा दिया है। रूहानी सेना को जिस्मानी साधारण सेना दिखा दिया है। अपना विजय का गायन अभी भी भक्तों द्वारा सुन हर्षित होते हो। गायन भी है प्रभु-प्रीत बुद्धि विजयन्ती। विपरीत बुद्धि विनशन्ति। तो कल्प पहले का आपका गायन कितना प्रसिद्ध है! विजय निश्चित होने के कारण निश्चयबुद्धि विजयी हो इसलिए माला को भी विजय माला कहते हैं। तो निश्चय और नशा दोनों हैं ना। कोई भी अगर पूछे तो निश्चय से कहेंगे कि विजय तो हुई पड़ी है। स्वप्न में भी यह संकल्प नहीं उठ सकता कि पता नहीं विजय होगी वा नहीं, हुई पड़ी है। पास्ट कल्प और भविष्य को भी जानते हो। त्रिकालदर्शी बन उसी नशे से कहते हो। सभी पक्के हो ना! अगर कोई कहे भी कि सोचो, देखो तो क्या कहेंगे? अनेक बार देख चुके हैं। कोई नई बात हो तो सोचें भी, देखें भी। यह तो अनेक बार की बात अब रिपीट कर रहे हैं। तो ऐसे निश्चय बुद्धि ज्ञानी तू आत्मायें योगी तू आत्मायें हो ना!

आज अफ्रीका के ग्रुप का टर्न है। ऐसे तो सभी अब मधुबन निवासी हो। परमानेंट एड्रेस तो मधुबन है ना। वह तो सेवास्थान है। सेवा-स्थान हो गया दफ्तर, लेकिन घर तो मधुबन है ना। सेवा के अर्थ अफ्रीका, यू.के. आदि चारों तरफ गये हुए हो। चाहे धर्म बदली किया, चाहे देश बदली किया लेकिन सेवा के लिए ही गये हो। याद कौन-सा घर आता है? मधुबन या परमधाम। सेवा स्थान पर सेवा करते भी सदा ही मधुबन और मुरली यही याद रहता है ना! अफ्रीका में भी सेवा अर्थ गये हो ना। सेवा ने ज्ञान गंगा बना लिया। ज्ञान गंगाओं में ज्ञान स्नान कर आज कितने पावन बन गये! बच्चों को भिन्न-भिन्न स्थानों पर सेवा करते हुए देख बापदादा सोचते हैं कि कैसे-कैसे स्थानों पर सेवा के लिए निर्भय बन बहुत लगन से रहे हुए हैं। अफ्रीकन लोगों का वायुमण्डल, उन्हों का आहार-व्यवहार कैसा है, फिर भी सेवा के कारण रहे हुए हो। सेवा का बल मिलता रहता। सेवा का प्रत्यक्ष फल मिलता है, वह बल निर्भय बना देता है। कभी घबराते तो नहीं हो ना! और ऑफीशल निमंत्रण पहले यहाँ से मिला। विदेश सेवा का निमंत्रण मिलने से ऐसे-ऐसे देशों में पहुंच गये। निमंत्रण की सेवा का फाउन्डेशन यहाँ से ही शुरू हुआ। सेवा के उमंग-उत्साह का प्रत्यक्ष फल यहाँ के बच्चे ने दिखाया। बलिहारी उस एक निमित्त बनने वाले की जो कितने अच्छे-अच्छे छिपे हुए रत्न निकल आये। अभी तो बहुत वृद्धि हो गई है। वह छिप गया और आप प्रत्यक्ष हो गये। निमंत्रण के कारण नम्बर आगे हो गया। तो अफ्रीका वालों को बापदादा आफरीन लेने वाले कहते हैं। आफरीन लेने का स्थान है क्योंकि वातावरण अशुद्ध है। अशुद्ध वातावरण के बीच वृद्धि हो रही है। इसके लिए आफरीन कहते हैं।

शक्ति सेना और पाण्डव सेना दोनों ही शक्तिशाली हैं, मैजारिटी इन्डियन्स हैं। लेकिन इन्डिया से दूर हो गये, तो दूर होते भी अपना हक तो नहीं छोड़ सकते। वहाँ भी बाप का परिचय मिल गया। बाप के बन गये। नैरोबी में मेहनत नहीं लगी। सहज ही बिछुड़े हुए पहुँच गये और गुजरातियों के यह विशेष संस्कार हैं। जैसे उन्हों की यह रीति है – सभी मिलकर गर्बा रास करते हैं। अकेले नहीं करते। छोटा हो चाहे मोटा हो, सब मिलकर गर्बा डान्स जरूर करते हैं। यह संगठन की निशानी है। सेवा में भी देखा गया है गुजराती संगठन वाले होते। एक आता तो 10 को जरूर लाता। यह संगठन की रीति अच्छी है उन्हों में, इसलिए वृद्धि जल्दी हो जाती है। सेवा की वृद्धि और विस्तार भी हो रहा है। ऐसे-ऐसे स्थानों पर शान्ति की शक्ति देना, भय के बदले खुशी दिलाना यही श्रेष्ठ सेवा है। ऐसे स्थानों पर आवश्यकता है। विश्व कल्याणकारी हो तो विश्व के चारों ओर सेवा बढ़नी है, और निमित्त बनना ही है। कोई भी कोना अगर रह गया तो उल्हना देंगे। अच्छा है हिम्मते बच्चे मददे बाप। हैण्डस भी वहाँ से ही निकल और सेवा कर रहे हैं। यह भी सहयोग हो गया ना। स्वयं जगे हो तो बहुत अच्छा लेकिन जगकर फिर जगाने के भी निमित्त बनें, यह डबल फायदा हो गया। बहुत करके हैण्डस भी वहाँ के ही हैं। यह विशेषता अच्छी है। विदेश सेवा में मैजारिटी सब वहाँ से निकल वहाँ ही सेवा के निमित्त बन जाते। विदेश ने भारत को हैण्डस नहीं दिया है। भारत ने विदेश को दिये हैं। भारत भी बहुत बड़ा है। अलग-अलग ज़ोन हैं। स्वर्ग तो भारत को ही बनाना है। विदेश तो पिकनिक स्थान बन जायेगा। तो सभी एवररेडी हो ना। आज किसको कहाँ भेजें तो एवररेडी हो ना! जब हिम्मत रखते हैं तो मदद भी मिलती है। एवररेडी जरूर रहना चाहिए। और जब समय ऐसा आयेगा तो फिर आर्डर तो करना ही होगा। बाप द्वारा आर्डर होना ही हैं। कब करेंगे, वह डेट नहीं बतायेंगे। डेट बतावें फिर तो सब नम्बरवन पास हो जाएं। यहाँ डेट का ही अचानक एक ही क्वेश्चन आयेगा! एवररेडी हो ना। कहें यहाँ ही बैठ जाओ तो बाल-बच्चे घर आदि याद आयेगा? सुख के साधन तो वहाँ हैं लेकिन स्वर्ग तो यहाँ बनना है। तो सदा एवररेडी रहना यह हैं ब्राह्मण जीवन की विशेषता। अपनी बुद्धि की लाइन क्लीयर हो। सेवा के लिए निमित्त मात्र स्थान बाप ने दिया है। तो निमित्त बनकर सेवा में उपस्थित हुए हो। फिर बाप का इशारा मिला तो कुछ भी सोचने की जरूरत ही नहीं है। डायरेक्शन प्रामाण सेवा अच्छी कर रहे हो, इसलिए न्यारे और बाप के प्यारे हो। अफ्रीका ने भी वृद्धि अच्छी की है। वी.आई.पी. की सेवा अच्छी हो रही है। गवर्मेन्ट के भी कनेक्शन अच्छे हैं। यह विशेषता है जो सर्व प्रकार वाले वर्ग की आत्माओं का सम्पर्क कोई न कोई समय समीप ले ही आता है। आज सम्पर्क वाले कल सम्बन्ध वाले हो जायेंगे। उन्हों को जगाते रहना चाहिए। नहीं तो थोड़ी ऑख खोल फिर सो जाते हैं। कुम्भकरण तो हैं ही। नींद का नशा होता है तो कुछ भी खा-पी भी लेते तो भूल जाते। कुम्भकरण भी ऐसे हैं। कहेंगे हाँ फिर आयेंगे, यह करेंगे। लेकिन फिर पूछो तो कहेंगे याद नहीं रहा, इसलिए बार-बार जगाना पड़ता है। गुजरातियों ने बाप का बनने में, तन-मन-धन से स्वयं को सेवा में लगाने में नम्बर अच्छा लिया है। सहज ही सहयोगी बन जाते हैं। यह भी भाग्य है। संख्या गुजरातियों की अच्छी है। बाप का बनने की लॉटरी कोई कम नहीं है।

हर स्थान पर कोई न कोई बाप के बिछुड़े हुए रत्न हैं ही। जहाँ भी पांव रखते हैं तो कोई न कोई निकल ही आते। बेपरवाह, निर्भय हो करके सेवा में लगन से आगे बढ़ते हैं तो पदम गुणा मदद भी मिलती है। आफिशियल निमंत्रण तो फिर भी यहाँ से ही आरम्भ हुआ। फिर भी सेवा का जमा तो हुआ ना। वह जमा का खाता समय पर खींचेगा जरूर। तो सभी नम्बरवन, तीव्र पुरूषार्थी आफरीन लेने वाले हो ना। नम्बरवन सम्बन्ध निभाने वाले नम्बरवन सेवा में सबूत दिखाने वाले सबमें नम्बरवन होना ही है, तब तो आफरीन लेंगे ना। आफरीन ते आफरीन लेते ही रहना है। सभी की हिम्मत देख बापदादा खुश होते हैं। अनेक आत्माओं को बाप का सहारा दिलाने के लिए निमित्त बने हुए हो। अच्छे ही परिवार के परिवार हैं। परिवार को बाबा गुलदस्ता कहते हैं। यह भी विशेषता अच्छी है। वैसे तो सभी ब्राह्मणों के स्थान हैं। अगर कोई नैरोबी जायेंगे वा कहाँ भी जायेंगे तो कहेंगे हमारा सेन्टर, बाबा का सेन्टर है। हमारा परिवार है। तो कितने लकी हो गये! बापदादा हर एक रत्न को देख खुश होते। चाहे कोई भी स्थान के हैं लेकिन बाप के हैं और बाप बच्चों का है, इसलिए ब्राह्मण आत्मा अति प्रिय है। विशेष है। एक दो से जास्ती प्यारे लगते हैं। अच्छा।

अब रूहानी पर्सनैलिटी द्वारा सेवा करो (अव्यक्त महावाक्य चुने हुए)

1- आप ब्राह्मणों जैसी रूहानी पर्सनैलिटी सारे कल्प में और किसी की भी नहीं है क्योंकि आप सबकी पर्सनैलिटी बनाने वाला ऊंचे ते ऊंचा स्वयं परम आत्मा है। आपकी सबसे बड़े ते बड़ी पर्सनैलिटी है – स्वप्न वा संकल्प में भी सम्पूर्ण प्युरिटी। इस प्युरिटी के साथ-साथ चेहरे और चलन में रूहानियत की भी पर्सनैलिटी है – अपनी इस पर्सनैलिटी में सदा स्थित रहो तो सेवा स्वत: होगी। कोई कैसी भी परेशान, अशान्त आत्मा हो आपकी रूहानी पर्सनैलिटी की झलक, प्रसन्नता की नज़र उन्हें प्रसन्न कर देगी। नज़र से निहाल हो जायेंगे। अभी समय की समीपता के अनुसार नज़र से निहाल करने की सेवा करने का समय है। आपकी एक नज़र से वह प्रसन्नचित हो जायेंगे, दिल की आश पूर्ण हो जायेगी।

जैसे ब्रह्मा बाप के सूरत वा सीरत की पर्सनैलिटी थी तब आप सब आकर्षित हुए, ऐसे फालो फादर करो। सर्व प्राप्तियों की लिस्ट बुद्धि में इमर्ज रखो तो चेहरे और चलन में प्रसन्नता की पर्सनैलिटी दिखाई देगी और यह पर्सनैलिटी हर एक को आकर्षित करेगी। रूहानी पर्सनैलिटी द्वारा सेवा करने के लिए अपनी मूड सदा चियरफुल और केयरफुल रखो। मूड बदलनी नहीं चाहिए। कारण कुछ भी हो, उस कारण का निवारण करो। सदा प्रसन्नता की पर्सनैलिटी में रहो। प्रसन्नचित्त रहने से बहुत अच्छे अनुभव करेंगे। प्रसन्नचित आत्मा के संग में रहना, उनसे बात करना, बैठना सबको अच्छा लगता है। तो लक्ष्य रखो कि प्रश्नचित्त नहीं, प्रसन्नचित्त रहना है।

आप बच्चे बाहर के रूप में भल साधारण पर्सनैलिटी वाले हो लेकिन रुहानी पर्सनैलिटी में सबसे नम्बरवन हो। आपके चेहरे पर, चलन में प्योरिटी की पर्सनैलिटी है। जितना-जितना जो प्योर है उतनी उनकी पर्सनैलिटी न सिर्फ दिखाई देती है लेकिन अनुभव होती है और वह पर्सनैलिटी ही सेवा करती है। जो ऊंची पर्सनैलिटी वाले होते हैं उसकी कहाँ भी, किसी में भी आंख नहीं जाती क्योंकि वह सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न हैं। वे कभी अपने प्राप्तियों के भण्डार में कोई अप्राप्ति अनुभव नहीं करते। वह सदा मन से भरपूर होने के कारण सन्तुष्ट रहते हैं, ऐसी सन्तुष्ट आत्मा ही दूसरों को सन्तुष्ट कर सकती है।

जितनी पवित्रता है उतनी ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी है, अगर पवित्रता कम तो पर्सनैलिटी कम। ये प्योरिटी की पर्सनैलिटी सेवा में भी सहज सफलता दिलाती है। लेकिन यदि एक विकार भी अंशमात्र है तो दूसरे साथी भी उसके साथ जरूर होंगे। जैसे पवित्रता का सुख-शान्ति से गहरा सम्बन्ध है, ऐसे अपवित्रता का भी पांच विकारों से गहरा सम्बन्ध है इसलिए कोई भी विकार का अंशमात्र न रहे तब कहेंगे पवित्रता की पर्सनैलिटी द्वारा सेवा करने वाले।

आजकल दो प्रकार की पर्सनैलिटी गाई जाती है – एक शारीरिक पर्सनैलिटी, दूसरी पोजीशन की पर्सनैलिटी। ब्राह्मण जीवन में जिस ब्राह्मण आत्मा में सन्तुष्टता की महानता है – उनकी सूरत में, उनके चेहरे में भी सन्तुष्टता और श्रेष्ठ स्थिति के पोजीशन की पर्सनैलिटी दिखाई देती है। जिनके नयन-चैन में, चेहरे में, चलन में सन्तुष्टता की पर्सनैलिटी दिखाई देती है वही तपस्वी हैं। उनका चित्त सदा प्रसन्न होगा, दिल-दिमाग सदा आराम में, सुख-चैन की स्थिति में होगा, कभी बेचैन नहीं होंगे। हर बोल और कर्म से, दृष्टि और वृत्ति से रूहानी पर्सनैलिटी और रॉयल्टी का अनुभव करायेंगे।

विशेष आत्माओं वा महान आत्माओं को देश की वा विश्व की पर्सनैलिटीज़ कहते हैं। पवित्रता की पर्सनैलिटी अर्थात् हर कर्म में महानता और विशेषता। रूहानी पर्सनैलिटी वाली आत्मायें अपनी इनर्जी, समय, संकल्प वेस्ट नहीं गँवाते, सफल करते हैं। ऐसी पर्सनैलिटी वाले कभी भी छोटी-छोटी बातों में अपने मन-बुद्धि को बिज़ी नहीं रखते हैं। रूहानी पर्सनैलिटी वाली विशेष आत्माओं की दृष्टि, वृत्ति, बोल.. सबमें अलौकिकता होगी, साधारणता नहीं। साधारण कार्य करते भी शक्तिशाली, कर्मयोगी स्थिति का अनुभव करायेंगे। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा – चाहे बच्चों के साथ सब्जी भी काटते रहे, खेल करते रहे लेकिन पर्सनैलिटी सदा आकर्षित करती रही। तो फालो फादर।

ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी ‘प्रसन्नता’ है। इस पर्सनैलिटी को अनुभव में लाओ और औरों को भी अनुभवी बनाओ। सदा शुभ-चिन्तन से सम्पन्न रहो, शुभ-चिन्तक बन सर्व को स्नेही, सहयोगी बनाओ। शुभ-चिन्तक आत्मा ही सदा प्रसन्नता की पर्सनैलिटी में रह विश्व के आगे विशेष पर्सनैलिटी वाली बन सकती है। आजकल पर्सनैलिटी वाली आत्मायें सिर्फ नामीग्रामी बनती हैं अर्थात् नाम बुलन्द होता है लेकिन आप रूहानी पसनैलिटी वाले सिर्फ नामी-ग्रामी अर्थात् गायन-योग्य नहीं लेकिन गायन-योग्य के साथ पूजनीय योग्य भी बनते हो। कितने भी बड़े धर्म-क्षेत्र में, राज्य-क्षेत्र में, साइंस के क्षेत्र में पर्सनैलिटी वाले प्रसिद्ध हुए हैं लेकिन आप रूहानी पर्सनैलिटी समान 63 जन्म पूजनीय नहीं बने हैं।

वरदान:- कम्बाइन्ड स्वरूप की स्मृति द्वारा श्रेष्ठ स्थिति की सीट पर सेट रहने वाले सदा सम्पन्न भव
संगमयुग पर शिव शक्ति के कम्बाइन्ड स्वरूप की स्मृति में रहने से हर असम्भव कार्य सम्भव हो जाता है। यही सर्व श्रेष्ठ स्वरूप है। इस स्वरूप में स्थित रहने से सम्पन्न भव का वरदान मिल जाता है। बापदादा सभी बच्चों को सदा सुखदाई स्थिति की सीट देते हैं। सदा इसी सीट पर सेट रहो तो अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते रहेंगे सिर्फ विस्मृति के संस्कार समाप्त करो।
स्लोगन:- पावरफुल वृत्ति द्वारा आत्माओं को योग्य और योगी बनाओ।

TODAY MURLI 26 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 July 2019:- Click Here

26/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remain honest internally and externally with the true Father for only then will you be able to become deities. It is only you Brahmins who become angels and then deities.
Question: Who has the right to hear and imbibe this knowledge?
Answer: Those who have played all-round parts; those who have performed the most devotion are the ones who will become clever in imbibing this knowledge. They are the ones who will claim a high status. Some people ask you children: Do you not believe in the scriptures? Tell them: No one in the world has studied the scriptures as much as we have or has done as much devotion as we have. We have now received the fruit of our devotion; this is why we no longer need to do devotion.

Om shanti. The unlimited Father sits here and explains to the unlimited children. The Father of all souls explains to all souls because He is the One who grants salvation to all. All souls are said to be in human bodies. If a soul doesn’t have a body, he cannot see. Although the Father establishes heaven according to the dramaplan, the Father says: I do not see heaven. Only those for whom heaven is made are able to see it. After teaching you, I do not take a body. Therefore, how could I see anything without a body? It is not that I am present here, there and everywhere and that I can see everything; no. The Father simply sees you children and He teaches you the pilgrimage of remembrance and He makes you into beautiful flowers. The word “yoga” belongs to the path of devotion. Only the Ocean of Knowledge gives knowledge. Only He is called the Satguru. All others are gurus. The One who speaks the truth is the One who establishes the land of truth. Bharat was the land of truth and it was where all the deities used to reside. You are now becoming deities from human beings. Therefore, you children are told to become honest with the Father, internally and externally. Previously, there was falsehood at every step. You now have to renounce all of that if you want to claim a high status in heaven. Many of you will go to heaven, but if, after recognising the Father, you haven’t had your sins absolved you will have to settle your karmic accounts by experiencing punishment and you will receive a low status. The kingdom is being established at this most auspicious confluence age. The kingdom cannot be established in the golden age or in the iron agebecause the Father does not come into the golden or the iron age. This age is called the most auspicious and benevolent age. The Father comes only in this age and benefits everyone. The golden age comes after the iron age. This is why there has to be the confluence age. The Father has explained that this world is old and impure. There is a song: The Resident of the Faraway Land. How can He meet His children in the foreign land? He meets foreign children in the foreign land, of course. He explains to them very clearly who it is whose body He enters. He gives His own introduction and He also explains to the one whom He enters that this is now the final one of his many births. It is very clear. You are still effort-makers here; you are not completely pure. Those who are completely pure are called angels. Those who are not pure are called impure. Only after becoming angels do you become deities. You see perfect angels in the subtle region; they are called angels. The Father explains: Children, only remember the one Alpha. Alpha means Baba. He is also known as Allah. You children have understood that you receive your inheritance of heaven from the Father. How is heaven created? Through the pilgrimage of remembrance and through knowledge. There is no knowledge on the path of devotion. Only the one Father gives knowledge to you Brahmins. Brahmins are the topknot. You are now Brahmins and you then play the game of somersaulting: Brahmins, deities, warriors, merchants. This is called the variety-form image. The variety-form image is not that of Brahma, Vishnu and Shankar. The topknot of Brahmins is not shown in that image. No one knows that the Father comes into the body of Brahma. The Brahmin clan is the most elevated clan because the Father comes and teaches them. The Father would not teach shudras. He only teaches you Brahmins. This study takes time because a kingdom is being established. You have to become the most elevated humans. Who creates the new world? The Father creates it. Do not forget this. Maya makes you forget this. That is her business. She does not interfere as much in knowledge as she does in remembrance. You souls are filled with a great deal of rubbish and that cannot be cleared without your having remembrance of the Father. Some children become very confused by the word “yoga”. They say: Baba, I am unable to have yoga. In fact, the word “yoga” belongs to hatha yogis. Sannyasis say, “Have yoga with the brahm element.” However, the brahm element is vast. Just as stars are visible in the sky, in the same way, there are tiny souls like stars up above, beyond the sky, where there is no light of the sun or moon. So, just see, you are such tiny rockets. This is why Baba says: First of all, you have to give everyone knowledge of souls. Only God can give this knowledge. It is not only that people don’t know God, but they do not know about souls either. Such a tiny soul is filled with an imperishable part in the cycle of 84 births. This is called the wonder of nature. It cannot be called anything else. Souls continue to go around the cycle of 84 births. This cycle continues to turn every 5000 years. This is fixed in the drama. The world is imperishable; it can never be destroyed. People say that annihilation takes place and that Krishna then comes on a pipal leaf, sucking his thumb. However, this does not happen; it is against the law of nature because total annihilation never takes place. One religion is established and all other religions are destroyed. This continues for all time. At this time, there are three main religions. This is the most auspicious confluence age. There is a difference of night and day between the old world and the new world. Yesterday the world was new and today it is old. Only you understand what existed in the world yesterday. Whichever religion it is, it is established by the one who belongs to that religion. Only one soul comes, not many. Then, expansion gradually takes place. The Father says: I do not give you children any difficulty. How could I give any difficulty to the children? He is the most beloved Father. He says: I am the Bestower of Salvation for you. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. It is I alone whom you remember. What have people been doing on the path of devotion? They have defamed Me a great deal. It is said: God is One. There is only one world cycle. It is not that there is another world up in the sky; there are stars in the sky. People think that there is a world in every star and that there is also a world down below. All of those things belong to the path of devotion. There is only the one highest-on-high God. It is said: All the souls of the whole world are threaded within You like a rosary. That can also be called the unlimited rosary of Rudra; they are all threaded together. People sing this but they don’t understand anything. The Father comes and explains: Children, I don’t give you the slightest difficulty. You have also been told that the first ones who did devotion are the ones who will go fast in knowledge. If they have done a great deal of devotion, they will also receive a great deal of fruit. It has been said that God gives the fruit of devotion. He is the Ocean of Knowledge, and so He would surely give the knowledge as fruit. No one knows about the fruit of devotion. The fruit of devotion is knowledge through which you receive the inheritance of the happiness of heaven. Only the one Father gives you this fruit, that is, He changes you from residents of hell into residents of heaven. No one even knows about Ravan. They say that this world is old. How long has it been old? They cannot calculate this. The Father is the Seed of the human world tree. He is the Truth. He can never be destroyed. This tree is called the inverted tree; the Father is up above. Souls look up and call out to the Father. Bodies cannot call out. A soul leaves a body and enters another one. Souls never increase or decrease in size, nor do they ever die. This play is predestined. The Father has explained to you the secrets of the beginning, the middle and the end of the whole play. He has also made you into theists. He has also told you that Lakshmi and Narayan don’t have this knowledge. There you don’t know about atheists or theists. It is at this time that the Father explains the meaning of this. Atheists are those who do not know the Father or the beginning, the middle and the end of His creation or its duration. At this time you become theists. This aspect is not there at all. This is a play. Whatever happens in one second does not repeat the next second. The drama continues to tick away. That which has passed, that reel continues to turn, just as when a film is shown, that same film is repeated again identically after two or three hours. The buildings etc. collapse in the film and later you see those same buildings being shown again. That also repeats identically. There is no need to be confused about this. The main aspect is that of God, the Father of souls. Souls have been separated from the Supreme Soul for a long time. They separate and then come down here to play their parts. You have remained separated for a total of 5000 years. You sweet children have received all-round parts. This is why it is only explained to you that you are the ones who have a right to this knowledge. Those who have done the most devotion are the ones who will go fast in knowledge and they will also claim a high status. First, it is Shiv Baba who is worshipped and then the deities. Later, you become adulterated by worshipping the five elements. The Father is now taking you into the unlimited whereas those people lead you into the unlimited ignorance of devotion. The Father now explains to you children: Consider yourselves to be souls and remember Me, the Father. However, when they leave here, Maya makes them forget. Just as a soul repents in a womb and promises not to perform any more sinful actions but forgets when he comes out, so it is the same here. When they leave here, they forget. This is a play about forgetting and not forgetting. You have now become adopted children of the Father. That is Shiv Baba. He is the unlimited Father of all souls. The Father comes from so far away. His home is the supreme abode. When He comes from the supreme abode, He surely brings a gift for the children. He brings Paradise on the palm of His hand as the gift. The Father says: Take your kingdom of heaven within a second: simply recognise the Father. He is the Father of all souls. He says: I am your Father. I also explain to you how I come. I definitely need a chariot. Which chariot? I cannot take the chariot of any of the mahatmas. Human beings say that you call Brahma God and that you also call Brahma a deity. Oh! but we don’t say this. He is shown standing at the top of the tree when the whole tree becomes tamopradhan. Brahma is shown there and so this would be the last of his many births. Baba himself says: When I reach the age of retirement, the Father enters me in my final birth, He came and made me renounce my whole business etc. People begin to do devotion after the age of 60 in order to meet God. The Father says: You were all following the dictates of human beings. Baba is now giving you shrimat. It is human beings who write the scriptures. Deities neither write them nor study them. There are no scriptures in the golden age; there is no devotion. In the scriptures, it is all the physical rituals that are mentioned; it is not like that here. You can see that Baba gives you knowledge. You have studied many scriptures on the path of devotion. If anyone asks you, “Do you not believe in the Vedas and scriptures?”, tell them: We believe in them more than any other human beings. We are the ones who began unadulterated devotion in the beginning. We have now received knowledge. It is through knowledge that there is salvation and so why should we do devotion? The Father says: Children, hear no evil! see no evil! Therefore, the Father explains in such a simple way: Sweetest children, have the faith that you are souls. I am a soul. They say that they are Allah. You receive the teachings to consider yourselves to be souls, children of the Father. Maya repeatedly makes you forget this. It is by coming into body consciousness that you perform wrong types of action. The Father now says: Children, do not forget the Father. Do not waste time. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the secrets of the Creator and creation accurately and become theists. Don’t become confused about the knowledge of the drama. Remove your intellect from all limitations and take it into the unlimited.
  2. In order to become an angel, a resident of the subtle region, become completely pure. With the power of remembrance, remove all the rubbish with which you souls are filled and become clean.
Blessing: May you be a special soul and show a sparkle of happiness on your face with your spiritual smile.
The speciality of Brahmin life is happiness. Happiness means a spiritual smile; not to laugh out loudly, but to smile. Even if someone insults you, let no wave of sorrow appear on your face, but always remain happy hearted. Do not think: That one said something for an hour and I simply said something for a second. Even if you said or thought something for just a second and there was unhappiness on your face, you fail. That is like tolerating for one hour and then the gas comes out of the balloon. Special souls who have an aim of an elevated life do not become such gasballoons.
Slogan: Yogi souls have cool bodies themselves, they are cool and look at others with a vision of coolness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 July 2019

To Read Murli 25 July 2019 :- Click Here
26-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सच्चे बाप के साथ अन्दर बाहर सच्चा बनो, तब ही देवता बन सकेंगे। तुम ब्राह्मण ही फ़रिश्ता सो देवता बनते हो”
प्रश्नः- इस ज्ञान को सुनने वा धारण करने का अधिकारी कौन हो सकता है?
उत्तर:- जिसने आलराउण्ड पार्ट बजाया है, जिसने सबसे जास्ती भक्ति की है, वही ज्ञान को धारण करने में बहुत तीखे जायेंगे। ऊंच पद भी वही पायेंगे। तुम बच्चों से कोई कोई पूछते हैं – तुम शास्त्रों को नहीं मानते हो? तो बोलो जितना हमने शास्त्र पढ़े हैं, भक्ति की है, उतना दुनिया में कोई नहीं करता। हमें अब भक्ति का फल मिला है, इसलिए अब भक्ति की दरकार नहीं।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप बेहद के बच्चों को बैठ समझाते हैं, सभी आत्माओं का बाप सभी आत्माओं को समझाते हैं क्योंकि वह सर्व का सद्गति दाता है। जो भी आत्मायें हैं, जीव आत्मायें ही कहेंगे। शरीर नहीं तो आत्मा देख नहीं सकती। भल ड्रामा के प्लैन अनुसार स्वर्ग की स्थापना बाप कर रहे हैं परन्तु बाप कहते हैं मैं स्वर्ग को देखता नहीं हूँ। जिन्हों के लिए है वही देख सकते हैं। तुमको पढ़ाकर फिर मैं तो कोई शरीर धारण करता ही नहीं हूँ। तो बिगर शरीर देख कैसे सकूँगा। ऐसे नहीं, जहाँ-तहाँ मौज़ूद हूँ। सब कुछ देखते हैं। नहीं, बाप सिर्फ देखते हैं तुम बच्चों को, जिनको गुल-गुल (फूल) बनाकर याद की यात्रा सिखलाते हैं। ‘योग’ अक्षर भक्ति का है। ज्ञान देने वाला एक ज्ञान का सागर है, उनको ही सतगुरू कहा जाता है। बाकी सब हैं गुरू। सच बोलने वाला, सचखण्ड स्थापन करने वाला वही है। भारत सच-खण्ड था, वहाँ सब देवी-देवता निवास करते थे। तुम अभी मनुष्य से देवता बन रहे हो। तो बच्चों को समझाते हैं – सच्चे बाप के साथ अन्दर-बाहर सच्चा बनना है। पहले तो कदम-कदम पर झूठ ही था, वह सब छोड़ना पड़ेगा, अगर स्वर्ग में ऊंच पद पाना चाहते हो तो। भल स्वर्ग में तो बहुत जायेंगे परन्तु बाप को जानकर भी विकर्मों को विनाश नहीं किया तो सजायें खाकर हिसाब-किताब चुक्तू करना पड़ेगा, फिर पद भी बहुत कम मिलेगा। राजधानी स्थापन हो रही है पुरूषोत्तम संगमयुग पर। राजधानी न तो सतयुग में स्थापन हो सकती, न कलियुग में क्योंकि बाप सतयुग या कलियुग में नहीं आते हैं। इस युग को कहा जाता है पुरूषोत्तम कल्याणकारी युग। इसमें ही बाप आकर सबका कल्याण करते हैं। कलियुग के बाद सतयुग आना है इसलिए संगमयुग भी जरूर चाहिए। बाप ने बताया है यह पतित पुरानी दुनिया है। गायन भी है दूर देश का रहने वाला…….. तो पराये देश में अपने बच्चे कहाँ से मिलेंगे। पराये देश में फिर पराये बच्चे ही मिलते हैं। उन्हों को अच्छी रीति समझाते हैं – मैं किसमें प्रवेश करता हूँ। अपना भी परिचय देते हैं और जिसमें प्रवेश करता हूँ उनको भी समझाता हूँ कि यह तुम्हारा बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। कितना क्लीयर है।

अभी तुम यहाँ पुरूषार्थी हो, सम्पूर्ण पवित्र नहीं। सम्पूर्ण पवित्र को फरिश्ता कहा जाता है। जो पवित्र नहीं उनको पतित ही कहेंगे। फरिश्ता बनने के बाद फिर देवता बनते हो। सूक्ष्मवतन में तुम सम्पूर्ण फरिश्ता देखते हो, उन्हों को फरिश्ता कहा जाता है। तो बाप समझाते हैं – बच्चे, एक अल्फ़ को ही याद करना है। अल्फ़ माना बाबा, उनको अल्लाह भी कहते हैं। बच्चे समझ गये हैं बाप से स्वर्ग का वर्सा मिलता है। स्वर्ग कैसे रचते हैं? याद की यात्रा और ज्ञान से। भक्ति में ज्ञान होता नहीं। ज्ञान सिर्फ एक ही बाप देते हैं ब्राह्मणों को। ब्राह्मण चोटी हैं ना। अभी तुम ब्राह्मण हो फिर बाजोली खेलेंगे। ब्राह्मण देवता क्षत्रिय……..इसको कहा जाता है विराट रूप। विराट रूप कोई ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का नहीं कहेंगे। उसमें चोटी ब्राह्मण तो हैं नहीं। बाप ब्रह्मा तन में आते हैं – यह तो कोई जानता नहीं। ब्राह्मण कुल ही सर्वोत्तम कुल है, जबकि बाप आकर पढ़ाते हैं। बाप शूद्रों को तो नहीं पढ़ायेंगे ना। ब्राह्मणों को ही पढ़ाते हैं। पढ़ाने में भी टाइम लगता है, राजधानी स्थापन होनी है। तुम ऊंच ते ऊंच पुरूषोत्तम बनो। नई दुनिया कौन रचेगा? बाप ही रचेगा। यह भूलो मत। माया तुमको भुलाती है, उनका तो धन्धा ही यह है। ज्ञान में इतना इन्टरफियर नहीं करती है, याद में ही करती है। आत्मा में बहुत किचड़ा भरा हुआ है, वह बाप की याद बिगर साफ हो न सके। योग अक्षर से बच्चे बहुत मूँझते हैं। कहते हैं बाबा हमारा योग नहीं लगता। वास्तव में योग अक्षर उन हठयोगियों का है। सन्यासी कहते हैं ब्रह्म से योग लगाना है। अब ब्रह्म तत्व तो बहुत बड़ा लम्बा-चौड़ा है, जैसे आकाश में स्टॉर्स देखने में आते हैं, वैसे वहाँ भी छोटे-छोटे स्टॉर मिसल आत्मायें हैं। वह है आसमान से पार, जहाँ सूर्य चांद की रोशनी नहीं। तो देखो कितने छोटे-छोटे रॉकेट तुम हो। तब बाबा कहते हैं – पहले-पहले आत्मा का ज्ञान देना चाहिए। वह तो एक भगवान् ही दे सकते हैं। ऐसे नहीं, सिर्फ भगवान् को नहीं जानते। परन्तु आत्मा को भी नहीं जानते। इतनी छोटी सी आत्मा में 84 के चक्र का अविनाशी पार्ट भरा हुआ है, इनको ही कुदरत कहा जाता है, और कुछ नहीं कह सकते। आत्मा 84 का चक्र लगाती ही रहती है। हर 5 हजार वर्ष बाद यह चक्र फिरता ही रहता है। यह ड्रामा में नूँध है। दुनिया अविनाशी है, कभी विनाश को नहीं पाती। वो लोग दिखाते हैं बड़ी प्रलय होती है फिर कृष्ण अंगूठा चूसता हुआ पीपल के पत्ते पर आता है। परन्तु ऐसे कोई होता थोड़ेही है। यह तो बेकायदे है। महाप्रलय कभी होती नहीं। एक धर्म की स्थापना और अनेक धर्मों का विनाश चलता ही रहता है। इस समय मुख्य 3 धर्म हैं। यह तो आस्पीशियस संगमयुग है। पुरानी दुनिया और नई दुनिया में रात-दिन का फ़र्क है। कल नई दुनिया थी, आज पुरानी है। कल की दुनिया में क्या था – यह तुम समझ सकते हो। जो जिस धर्म का है, उस धर्म की ही स्थापना करते हैं। वो तो सिर्फ एक आते हैं, बहुत नहीं होते। फिर धीरे-धीरे वृद्धि होती है।

बाप कहते हैं तुम बच्चों को कोई तकल़ीफ नहीं देता हूँ। बच्चों को तकल़ीफ कैसे देंगे! मोस्ट बिलवेड बाप है ना। कहते हैं मैं तुम्हारा सद्गति दाता, दु:ख हर्ता सुख कर्ता हूँ। याद भी मुझ एक को करते हैं। भक्ति मार्ग में क्या कर दिया है, कितनी गालियां मुझे देते हैं! कहते हैं गॉड इज वन। सृष्टि का चक्र भी एक ही है, ऐसे नहीं, आकाश में कोई दुनिया है। आकाश में स्टॉर्स हैं। मनुष्य तो समझते हैं एक-एक स्टॉर में सृष्टि है। नीचे भी दुनिया है। यह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। ऊंच ते ऊंच भगवान् एक है। कहते भी हैं सारे सृष्टि की आत्मायें तुम्हारे में पिरोई हुई हैं, यह जैसे माला है। इनको बेहद की रूद्र माला भी कह सकते हैं। सूत्र में बांधी हुई हैं। गाते हैं परन्तु समझते कुछ नहीं। बाप आकर समझाते हैं – बच्चे, मैं तुमको ज़रा भी तकल़ीफ नहीं देता हूँ। यह भी बताया है जिन्होंने पहले-पहले भक्ति की है, वही ज्ञान में तीखे जायेंगे। भक्ति जास्ती की है तो फल भी उनको जास्ती मिलना चाहिए। कहते हैं भक्ति का फल भगवान् देते हैं, वह है ज्ञान का सागर। तो जरूर ज्ञान से ही फल देंगे। भक्ति के फल का किसको भी पता नहीं है। भक्ति का फल है ज्ञान, जिससे स्वर्ग का वर्सा सुख मिलता है। तो फल देते हैं अर्थात् नर्कवासी से स्वर्गवासी बनाते हैं एक बाप। रावण का भी किसको पता नहीं है। कहते भी हैं यह पुरानी दुनिया है। कब से पुरानी है – वह हिसाब नहीं लगा सकते हैं। बाप है मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीजरूप। सत्य है। वह कभी विनाश नहीं होता, इनको उल्टा झाड़ कहते हैं। बाप ऊपर में है, आत्मायें बाप को ऊपर देख बुलाती हैं, शरीर तो नहीं बुला सकता। आत्मा तो एक शरीर से निकल दूसरे में चली जाती है। आत्मा न घटती, न बढ़ती, न कभी मृत्यु को पाती है। यह खेल बना हुआ है। सारे खेल के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बाप ने बताया है। आस्तिक भी बनाया है। यह भी बताया कि इन लक्ष्मी-नारायण में यह ज्ञान नहीं है। वहाँ तो आस्तिक-नास्तिक का पता ही नहीं रहता है। इस समय बाप ही अर्थ समझाते हैं। नास्तिक उनको कहा जाता है जो न बाप को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को, न ड्युरेशन को जानते हैं। इस समय तुम आस्तिक बने हो। वहाँ यह बातें ही नहीं। खेल है ना। जो बात एक सेकण्ड में होती वह फिर दूसरे सेकण्ड में नहीं होती। ड्रामा में टिक-टिक होती रहती है। जो पास्ट हुआ चक्र फिरता जायेगा। जैसे बाइसकोप होता है, दो घण्टे या तीन घण्टे बाद फिर वही बाइसकोप हूबहू रिपीट होगा। मकान आदि तोड़ डालते हैं फिर देखेंगे बना हुआ है। वही हूबहू रिपीट होता है। इसमें मूँझने की बात ही नहीं। मुख्य बात है आत्माओं का बाप परमात्मा है। आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल…….. अलग होती हैं, यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। तुम पूरे 5 हज़ार वर्ष अलग रहे हो। तुम मीठे बच्चों को आलराउण्ड पार्ट मिला है इसलिए तुमको ही समझाते हैं। ज्ञान के भी तुम अधिकारी हो। सबसे जास्ती भक्ति जिसने की है, ज्ञान में भी वही तीखे जायेंगे, पद भी ऊंच पायेंगे। पहले-पहले एक शिवबाबा की भक्ति होती है फिर देवताओं की। फिर 5 तत्वों की भी भक्ति करते, व्यभिचारी बन जाते हैं। अभी बेहद का बाप तुमको बेहद में ले जाते हैं, वह फिर बेहद के भक्ति के अज्ञान में ले जाते हैं। अब बाप तुम बच्चों को समझाते हैं – अपने को आत्मा समझ मुझ एक बाप को याद करो। फिर भी यहाँ से बाहर जाने से माया भुला देती है। जैसे गर्भ में पश्चाताप करते हैं – हम ऐसे नहीं करेंगे, बाहर आने से भूल जाते हैं। यहाँ भी ऐसे है, बाहर जाने से ही भूल जाते हैं। यह भूल और अभुल का खेल है। अभी तुम बाप के एडाप्टेड बच्चे बने हो। शिवबाबा है ना। वह है सब आत्माओं का बेहद का बाप। बाप कितना दूर से आते हैं। उनका घर है परमधाम। परमधाम से आयेंगे तो जरूर बच्चों के लिए सौगात ले आयेंगे। हथेली पर बहिश्त सौगात में ले आते हैं। बाप कहते हैं सेकण्ड में स्वर्ग की बादशाही लो। सिर्फ बाप को जानो। सभी आत्माओं का बाप तो है ना। कहते हैं मैं तुम्हारा बाप हूँ। मैं कैसे आता हूँ – वह भी तुमको समझाता हूँ। मुझे रथ तो जरूर चाहिए। कौन-सा रथ? कोई महात्मा का तो नहीं ले सकते। मनुष्य कहते हैं तुम ब्रह्मा को भगवान, ब्रह्मा को देवता कहते हो। अरे, हम कहाँ कहते हैं! झाड़ के ऊपर एकदम अन्त में खड़े हैं, जबकि झाड़ सारा तमोप्रधान है। ब्रह्मा भी वहाँ खड़ा है तो बहुत जन्मों के अन्त का जन्म हुआ ना। बाबा खुद कहते हैं मेरे बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में जब वानप्रस्थ अवस्था होती है तब बाप आये हैं। जो आकर धन्धा आदि छुड़ाया। साठ वर्ष के बाद मनुष्य भक्ति करते हैं भगवान् से मिलने के लिए।

बाप कहते हैं तुम सब मनुष्य मत पर थे, अभी बाबा तुम्हें श्रीमत दे रहे हैं। शास्त्र लिखने वाले भी मनुष्य हैं। देवतायें तो लिखते नहीं, न पढ़ते हैं। सतयुग में शास्त्र होते नहीं। भक्ति ही नहीं। शास्त्रों में सब कर्मकाण्ड लिखा हुआ है। यहाँ वह बात है नहीं। तुम देखते हो बाबा ज्ञान देते हैं। भक्ति मार्ग में तो हमने शास्त्र बहुत पढ़े हैं। कोई पूछे तुम वेदों-शास्त्रों आदि को नहीं मानते हो? बोलो, जो भी मनुष्य मात्र हैं उनसे ज्यादा हम मानते हैं। शुरू से लेकर अव्यभिचारी भक्ति हमने शुरू की है। अभी हमको ज्ञान मिला है। ज्ञान से सद्गति होती है फिर हम भक्ति को क्या करेंगे। बाप कहते हैं – बच्चे, हियर नो ईविल, सी नो ईविल…….. तो बाप कितना सिम्पल रीति समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, अपने को आत्मा निश्चय करो। मैं आत्मा हूँ, वह कह देते अल्लाह हूँ। तुमको शिक्षा मिलती है मैं आत्मा हूँ, बाप का बच्चा हूँ। यही माया घड़ी-घड़ी भुलाती है। देह-अभिमानी होने से ही उल्टा काम होता है। अब बाप कहते हैं – बच्चे, बाप को भूलो मत। टाइम वेस्ट मत करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रचयिता और रचना के राज़ को यथार्थ समझ आस्तिक बनना है। ड्रामा के ज्ञान में मूँझना नहीं है। अपनी बुद्धि को हद से निकाल बेहद में ले जाना है।

2) सूक्ष्मवतनवासी फरिश्ता बनने के लिए सम्पूर्ण पवित्र बनना है। आत्मा में जो किचड़ा भरा है, उसे याद के बल से निकाल साफ करना है।

वरदान:- आत्मिक मुस्कराहट द्वारा चेहरे से प्रसन्नता की झलक दिखाने वाले विशेष आत्मा भव
ब्राह्मण जीवन की विशेषता है प्रसन्नता। प्रसन्नता अर्थात् आत्मिक मुस्कराहट। ज़ोर-जोर से हँसना नहीं, लेकिन मुस्कराना। चाहे कोई गाली भी दे रहे हो तो भी आपके चेहरे पर दु:ख की लहर नहीं आये, सदा प्रसन्नचित। यह नहीं सोचो कि उसने एक घण्टा बोला मैने तो सिर्फ एक सेकण्ड बोला। सेकण्ड भी बोला या सोचा, शक्ल पर अप्रसन्नता आई तो फेल हो जायेंगे। एक घण्टा सहन किया फिर गुब्बारे से गैस निकल गई। श्रेष्ठ जीवन के लक्ष्य वाली विशेष आत्मा ऐसे गैस के गुब्बारे नहीं बनती।
स्लोगन:- शीतल काया वाले योगी स्वयं शीतल बन दूसरों को शीतल दृष्टि से निहाल करते हैं।

TODAY MURLI 26 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 July 2018 :- Click Here

26/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is the Almighty Government. Dharamraj is with the Father. Therefore, tell the Father about the sins you have committed and half will be forgiven.
Question: On what basis are the masters of the kingdom and the wealthy subjects created?
Answer: In order to become a master of the kingdom, you have to pay full attention to the study. A status is attained on the basis of how you study. Those who are to become wealthy subjects will take knowledge, sow seeds (become co-operative) and also remain pure, but they will not pay full attention to the study. You can pay attention to the study when you first have the firm faith that God Himself has come to teach you. If there isn’t this faith, then, even while you are sitting here, it is as though you are dull. If you have faith, you have to study regularly and also imbibe knowledge.
Song: Show the path to the blind, dear God! 

Om shanti. The iron age is called the city of darkness because all souls have become dull. It isn’t that their eyes are blind. In the city of darkness, all the children of blind parents are blind, without the eye of knowledge; they have become tamopradhan. The Father of all of us souls is the Supreme Soul. When all of us souls reside there, in the supreme abode, we are ignited lights. At first we were satopradhan, real gold. Satyug is called the golden age. In Hindi, it is called Paraspuri (Land of Divinity). It is now the iron age which is tamopradhan; everyone has a stone intellect. In the golden age, there is light in every home. In the iron age, there is darkness in every home. The deity religion has vanished. All have become corrupt in their religion and actions. They cannot call themselves deities because they are vicious. Baba has given the example of a person called Savarkar. He was told that the deity religion was the original and eternal religion. He was asked: Why do you say ‘The original eternal Hindu Mahasabha’? He replied: Dadaji, we cannot call ourselves deities because we are impure. Therefore, the deity religion is now being established because this is a mission ary. Just as when Christ came, there were no Christians, so, at this time too, the deity religion doesn’t exist. The Brahmin religion has now been established. The Brahmins will then become deities. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: I am the One who establishes the deity religion. I am the parlokik Father of you souls and I sent all of you here. Just as that is the Christianmissionary, so this is the missionary of the deity religion. The parlokik Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, says: Children, everything you have been hearing has been lies. Although it is all going to happen again according to the drama, I come every cycle to explain to you and to liberate you from the bondage of this Maya and I inspire the deity religion to be established through Brahma. Then, from the copper age onwards, many other religions are established. The deity religion doesn’t exist at that time. This is the kingdom of Ravan. The Gita is the most elevated scripture of Bharat because it was spoken by God. All other scriptures are spoken by human beings. Krishna received his reward in the golden age. Baba says: I have now come to establish the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. None of the others who relate the Gita can say this. God alone says: O children, people of Bharat, I have come to establish the deity religion through Brahma. First of all, Brahmins are needed through Brahma. Deities receive the reward. They don’t benefit anyone. They themselves are royal people. There is a lot of wealth there. Maya doesn’t exist there and that is why it is called heaven. Bharat is now hell. None of the others who relate the Gita can say that lust is the greatest enemy and that by conquering it you will become the masters of heaven. You might travel throughout the whole of Bharat, but no one would be able to say this because they are vicious themselves. The poor helpless people don’t even know that this is everyone’s final birth. Baba first tells you that it is this one’s final birth of many births whose body I enter, that is, it is now the end of the whole world. You take the responsibility of purity in this one birth. This is not a lie. You can also see the Great War ahead. Small rehearsals will continue to take place. Some children have had visions of establishment and destruction. This proves that this is the final birth. None of the others who relate the Gita would say that you have to take the responsibility of becoming pure because this is the final birth. Yours is Raja Yoga. You are doing tapasya to claim the kingdom. You now have to earn this true income. In this final birth you are becoming lords of divinity from being lords of stone. You claim a very high status. I have come and awoken My old children who have been burnt by Maya. This one was beautiful. Now, all souls are ugly and tamopradhan. It is souls that become ugly and beautiful. It is clearly a lie to say that souls are immune to the effect of action. Souls carry their sanskars. Baba says: You children are now following God’s directions. Europeans say that there was the kingdom of gods and goddesses in Bharat. They speak of God Rama and Goddess Sita, but they cannot be called God. That is deityism. There is no God there. God is only One and there are three subtle deities. All the rest is the human world. Christ came and established the Christian religion. Christians didn’t exist before that. In the same way, the deity religion has now vanished. The most elevated religion is that of the deities. Baba says: First of all, I establish this spiritual Brahmin religion. You spiritual Brahmins show the way to the supreme abode. It is said that devotees find God while sitting at home. So, Baba says: Those who were deities would definitely become the first number devotees. Lakshmi and Narayan are the ones who started the path of devotion. They first built the Somnath Temple. It is explained so clearly. Those who are to become the masters of the kingdom will take this knowledge. Then, those who are to become wealthy subjects will also listen to this knowledge. They will sow the seeds too, but they will not study a great deal. They will remain pure. Baba says: Children, this is a study. Only by studying is a status received. The status is the highest. First of all, let there be the faith that God, not Krishna, has come to teach you children. However, we will become Krishna through this study; all of you will become princes and princesses. Those who don’t have full faith sit in this school as though they are dull. If you have faith, you have to study regularly. Otherwise, it is as though you haven’t understood anything. You receive this imperishable reward from imperishable Baba. All the rest will be buried in the graveyard. However, until we become ready, only a few will remain. Then, they too will finish. You and I saw all of this in the previous cycle. We are now seeing it again. It would now be said that I am once again establishing this religion after 5000 years because those people cannot have the knowledge of Brahmand or of the beginning, middle and end of the cycle. Baba alone comes and gives you this knowledge. Brahmand is the place where souls reside egg-shaped. Those sannyasis say that the brahm element is God. However, brahm is an element whereas Shiva is the Supreme Father, the Supreme Soul. Those people say, “Brahmohum, Shivohum” (I am Brahm, I am Shiva). However, Shiva is the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar. It is said that Bhagirath (the lucky chariot) brought the Ganges; that Bhagirath is this human being. Nandigan, the bull, is an animal. They have heard of the cowshed and so they have kept a bull. In the temples too, there are the right pictures of Lakshmi and Narayan and of Rama and Sita. They are the highest on high who experience their reward. Even subjects experience their reward. There are Lakshmi and Narayan the First, the Second, the Third ; there are eight in the dynasty. Children rule the kingdom. It is the same with Rama and Sita. It is said: Jagadamba is Adi Devi and Brahma is Adi Dev. Adam and Eve are both ugly at this time and are to become beautiful. The world doesn’t know these things. Kali, Durga, Amba are all names of the same one. Her real name is Saraswati. Therefore, it is the soul that becomes ugly. It isn’t that someone dirties his or her face. At this time, all souls are ugly. We were all like monkeys. Baba has now made us His army. You are now conquering Ravan. Baba says: I tell you the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. They have portrayed scriptures in the hands of Brahma. There should only be one scripture. So there is now the most elevated Gita in the hands of Brahma. Baba sits here and tells you the essence of all the Vedas and the Granth etc. through Brahma. This is called the Gita but there isn’t a scripture here. You have the Gita in your intellects. In the Gita, there are these elevated words of God: Lust is the greatest enemy. Therefore, this has to be told to those who relate the Gita: Conquer this and you will become the masters of heaven. They would never say this. They all continue to tell lies. We too used to tell lies. We also adopted many gurus. Arjuna was also told: Forget everyone else. I am the One who purifies all those gurus of yours. You now have to forget everything you have studied. I am now telling you things that you have never heard before. You are now becoming like diamonds from shells. All of that is now to end. You children have seen destruction and establishment and this is why you are making effort. Baba has everyone’s chart. Some write this and give it to Baba: I was a sinner like this and I did this. Dharamraj Baba says: By telling Me about it, half will be forgiven. All of that stays private. Baba would read it and tear it up. This is the Almighty Government. The tree is very small as yet, and the Gardener of this is God Himself. Growth will take place slowly. Maya quickly makes you wilt. They have taken the situation of one time and made it into a story of another time. Lakshmi and Narayan were the most elevated human beings who followed the highest code of conduct. They were extremely pure. Here, all are impure. That was the religion of the pure ashram-like household. Here, there is irreligion of the impure household. People ask: How would the world then continue? Baba says: This world is not going to remain; it is to be destroyed. This is your final birth. This is why you have to stop using the sword of lust. You have been receiving the inheritance of poison from vicious parents for birth after birth. I now issue this ordinance: Stop giving the inheritance of poison. Otherwise, you won’t be able to go to Paradise. By conquering the vices, you will go to heaven, otherwise, to hell. If the kingdom of Rama were in the sky, the kingdom of Ravan would be down in the depths of hell. This is the drama. At this time, those of the deity religion have been converted to other religions; they don’t know their original religion. Once they experience a little happiness in another religion, they soon become converted. That is called half-caste. Here, too, those who come into the Brahmin caste but whose efforts are weak will receive the status of subjects. Baba tells you everything very clearly. Rishis and munis used to say that they are trikaldarshi. Then, they also used to say that the world is an illusion, that it is false. In that case, how could they be trikaldarshi? They have told so many lies. When they say, “So-and-so went to the land of nirvana”, that too is a lie. They all have to play their parts and become present here. Baba is everyone’s Guide. Baba doesn’t tell anyone to renounce devotion. Until they reach a mature stage, let them continue to perform devotion. Remember, I (Brahma) am not anyone’s guru. Just as you are listening to Shiv Baba, I too am listening to Shiv Baba. That one incorporeal One is the Guru of us all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make a promise for purity in this last birth and take that responsibility. Endeavour to make the soul beautiful and satopradhan from ugly.
  2. In order to create your imperishable reward, have faith in your intellect and study regularly. Remove from your intellect everything you have studied so far.
Blessing: May you be filled with infinite treasures and by experiencing stable and constant happiness, claim number one.
In order to claim number one, continue to experience stable and constant happiness. Do not get caught up in any type of jamela (confusion). By going into any jamela, your swing of happiness becomes slack and you would not be able to swing high. Therefore, constantly continue to swing in the swing of constant and stable happiness. All the children receive from BapDada imperishable, infinite and unlimited treasures. So, constantly remain stable and filled with the attainment of those treasures. The speciality of the confluence age is experience and so take benefit of the speciality of this age.
Slogan: In order to become a great donor with your mind, remain constantly stable in a spiritual stage.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 July 2018

To Read Murli 25 July 2018 :- Click Here
26-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह ऑलमाइटी गवर्मेन्ट है, बाप के साथ धर्मराज भी है, इसलिए बाप को अपने किये हुए पाप बताओ तो आधा माफ हो जायेगा”
प्रश्नः- राजधानी का मालिक और प्रजा में साहूकार किस आधार पर बनते हैं?
उत्तर:- राजधानी का मालिक बनने के लिए पढ़ाई पर पूरा ध्यान चाहिए। पढ़ाई से ही पद की प्राप्ति होती है। साहूकार प्रजा बनने वाले नॉलेज लेंगे, बीज भी बोयेंगे (सहयोगी बनेंगे), पवित्र भी रहेंगे लेकिन पढ़ाई पर पूरा ध्यान नहीं देंगे। पढ़ाई पर ध्यान तब हो जब पहले पक्का निश्चय हो कि हमें स्वयं भगवान् पढ़ाने आते हैं। अगर पूरा निश्चय नहीं तो यहाँ बैठे भी जैसे भुट्टू हैं। अगर निश्चय है तो रेग्युलर पढ़ना चाहिए। धारण करना चाहिए।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ प्रभू…….. 

ओम् शान्ति। कलियुग को अंधेर नगरी कहा जाता है क्योंकि सब आत्मायें उझाई हुई हैं, ऐसे नहीं कि आंखों से अंधे हैं। अंधेरी नगरी में सब ज्ञान नेत्र हीन अन्धे की औलाद अंधे हैं। तमोप्रधान बन गये हैं। हम सब आत्माओं का बाप वह परमात्मा है, जब हम सब आत्मायें वहाँ मूलवतन में रहती हैं तो जागती ज्योत हैं। पहले-पहले सतोप्रधान सच्चे सोने थे। सतयुग को कहा ही जाता है गोल्डन एज। हिन्दी में पारसपुरी कहा जाता है। अब तो है आइरन एज अर्थात् तमोप्रधान पत्थर बुद्धि। सतयुग में है घर-घर सोझरा, कलियुग में है घर-घर अन्धियारा। देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो गया है। सब धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हैं। अपने को देवता कहला नहीं सकते क्योंकि विकारी हैं। बाबा ने सावरकर का मिसाल बताया था। उनको कहा गया कि आदि सनातन तो देवता धर्म था। तुम फिर आदि सनातन हिन्दू महासभा क्यों कहते हो? बोला – दादा जी, हम लोग अपने को देवता कह नहीं सकते क्योंकि हम अपवित्र हैं। तो अब देवता धर्म की स्थापना हो रही है क्योंकि यह मिशनरी है ना। जैसे क्राइस्ट आया तो क्रिश्चियन थे नहीं। इस समय भी देवता धर्म है नहीं। अब ब्राह्मणों की स्थापना हुई है। ब्राह्मण फिर देवी-देवता होने हैं। परमपिता परमात्मा कहते हैं – मैं हूँ देवी-देवता धर्म की स्थापना करने वाला। मैं तुम आत्माओं का पारलौकिक पिता हूँ, जो मैं तुम सबको भेज देता हूँ। जैसे वह क्रिश्चियन की मिशनरी है, वैसे यह देवता धर्म की मिशनरी हैं। स्वयं पारलौकिक परमपिता परमात्मा कहते हैं – बच्चे, तुम जो भी सुनते आये हो सब झूठ। भल ड्रामा अनुसार फिर भी यह होना है। परन्तु इस माया की बॉन्डेज से छुड़ाने कल्प-कल्प मैं आकर समझाता हूँ और आकर ब्रह्मा द्वारा देवता धर्म की स्थापना कराता हूँ। द्वापर से फिर और अनेक धर्म स्थापन होते हैं। उस समय देवता धर्म है नहीं। उसको कहा जाता है – रावण राज्य। गीता तो है भारत का सर्वोत्तम शास्त्र क्योंकि भगवान् का गाया हुआ है। और सभी शास्त्र मनुष्यों के गाये हुए हैं। कृष्ण ने तो सतयुग में प्रालब्ध पाई है। अब बाबा कहते हैं – मैं आया हूँ लक्ष्मी-नारायण का राज्य स्थापन करने, भारत में। ऐसे और कोई गीता सुनाने वाला कह न सके। भगवान् ही कहते हैं – हे भारतवासी बच्चे, मैं आया हूँ, ब्रह्मा द्वारा देवता धर्म स्थापन करने। पहले तो ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण चाहिए। देवतायें तो प्रालब्ध भोगते हैं। वह किसका कल्याण नहीं करते। वह तो राजे लोग हैं। वहाँ सम्पत्ति बहुत है। माया होती नहीं इसलिए उनको स्वर्ग कहा जाता है। अब भारत नर्क है। और कोई भी गीता सुनाने वाले ऐसे कह न सकें कि काम महाशत्रु है, इन पर विजय पाने से तुम स्वर्ग के मालिक बनोगे। भल तुम सारे भारत में जाओ, कोई भी ऐसा कह नहीं सकता क्योंकि खुद ही विकारी है। उन बिचारों को भी यह पता नहीं कि सबका अन्तिम जन्म है। बाबा बतलाते हैं कि पहले तो इनका यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है, जिसमें मैं प्रवेश करता हूँ अर्थात् अब सारे सृष्टि का ही अन्त है। इस एक जन्म के लिए तुम पवित्रता का बीड़ा उठाओ। यह कोई झूठ बात तो नहीं। महाभारी लड़ाई भी देख रहे हो। थोड़ी-थोड़ी रिहर्सल होती रहेगी। बच्चों ने विनाश-स्थापना का साक्षात्कार किया है। इससे सिद्ध होता है – अन्तिम जन्म है। और गीता सुनाने वाले ऐसा कह न सकें कि यह अन्तिम जन्म है इसलिए पवित्रता का बीड़ा उठाओ। तुम्हारा यह राजयोग है। तुम तपस्या करते हो, राजाई के लिए। अब यह सच्ची कमाई करनी है। इस अन्तिम जन्म में पत्थरनाथ से पारसनाथ बनते हो। बिल्कुल ऊंच पद पाते हो।

जो हमारे पुराने बच्चे हैं, जिनको माया ने भस्मीभूत किया है, उन्हों को आकर जगाया है। यह गोरा था। अब सब आत्मायें काली तमोप्रधान हैं। आत्मा ही काली और गोरी बनती है। आत्मा को निर्लेप कहना बिल्कुल साफ झूठ है। आत्मा संस्कार ले जाती है। अब बाबा कहते हैं तुम बच्चे हो ईश्वरीय मत पर। यूरोपियन लोग भी कहते हैं – भारत में गॉड-गॉडेज की राजधानी थी। भगवान् राम, भगवती सीता, परन्तु उनको भगवान् कह नहीं सकेंगे। वह तो डिटीजम है। वहाँ भगवान् कोई नहीं है। भगवान् तो एक है। देवतायें तीन हैं। बाकी है मनुष्य सृष्टि। जैसे क्राइस्ट ने आकर धर्म स्थापन किया, क्रिश्चियन थे नहीं। वैसे अब देवता धर्म प्राय: लोप है। सबसे उत्तम धर्म है देवताओं का। बाबा कहते हैं पहले-पहले यह रूहानी ब्राह्मण धर्म रचता हूँ। यह रूहानी ब्राह्मण परमधाम का रास्ता बताने वाले हैं। कहते हैं भक्तों को घर बैठे भगवान् मिलता है। तो बाबा बतलाते हैं पहले नम्बर में भक्त जरूर देवतायें होंगे। लक्ष्मी-नारायण ने पहले-पहले भक्ति मार्ग शुरू किया। सोमनाथ का मन्दिर उन्हों ने बनाया, कितना साफ-साफ बतलाते हैं। यह नॉलेज उठायेंगे भी वह जो राजधानी के मालिक बनने होंगे। फिर जो प्रजा में साहूकार बनने होंगे वह ज्ञान भी सुनेंगे। बीज भी बोयेंगे लेकिन पढ़ाई ज्यादा नहीं पढ़ेंगे। पवित्र रहेंगे। बाबा कहते हैं – बच्चे, यह पढ़ाई है। पढ़ाई से ही पद मिलना है। बहुत ऊंच ते ऊंच पद है। पहले तो यह निश्चय चाहिए कि भगवान् हम बच्चों को पढ़ाने आये हैं, न कि कृष्ण। बाकी हाँ, इस पढ़ाई से हम कृष्ण बनेंगे। प्रिन्स-प्रिन्सेज तो तुम सब बनते हो। जिनको यह पूरा निश्चय नहीं वह इस स्कूल में ऐसे बैठे रहते जैसे कोई भुट्टू। अगर निश्चय है तो रेग्युलर पढ़ना है। नहीं तो कुछ समझा नहीं है। यह अविनाशी प्रालब्ध मिलती है, अविनाशी बाबा द्वारा। बाकी सब कब्रदाखिल हो जायेंगे। बाकी थोड़े रहेंगे, जब तक हम तैयार हो जायें। फिर वह ख़लास हो जायेंगे। हम-तुमने कल्प पहले यह सब देखा था। अब देख रहे हैं। अभी कहेंगे कि 5 हजार वर्ष बाद फिर यह धर्म स्थापन कर रहा हूँ क्योंकि उनमें ब्रह्माण्ड और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान हो नहीं सकता। यह ज्ञान बाबा ही आकर देते हैं। ब्रह्माण्ड अर्थात् जहाँ आत्मायें अण्डे मिसल रहती हैं। वह सन्यासी लोग फिर ब्रह्म को ईश्वर कह देते हैं। अब ब्रह्म तो है तत्व। परमपिता परमात्मा तो है शिव। वह लोग तो ब्रह्मोहम् भी कहते, शिवोहम् भी कहते रहते। परन्तु शिव तो है ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का रचयिता। कहते हैं ना – भागीरथ ने गंगा लाई। वह यह भागीरथ मनुष्य है। नंदीगण तो फिर जानवर हो गया। उन्होंने गऊशाला अक्षर सुना है तो फिर बैल को रख दिया है। मन्दिरों में भी राइट चित्र हैं – लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम के। बस, यह है ऊंच ते ऊंच जो प्रालब्ध भोगते हैं। प्रजा भी प्रालब्ध भोगती है। लक्ष्मी-नारायण दी फर्स्ट, दी सेकेण्ड, थर्ड…….. 8 बादशाही चलती हैं। बच्चे राज्य करते हैं। सीता-राम का भी ऐसे चलता है। फिर गाया जाता है जगदम्बा आदि देवी और ब्रह्मा आदि देव। एडम-ईव – यह दोनों अब काले हैं फिर गोरे बनने हैं। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। काली, दुर्गा, अम्बा – सब एक के ही नाम हैं। सच्चा नाम सरस्वती है। तो आत्मा काली होती है, बाकी कोई काला मुँह थोड़ेही होता है। इस समय सब आत्मायें काली हैं। हम सब बन्दर थे। अब बाबा ने हमको अपनी सेना बनाया है। अब रावण पर जीत पा रहे हैं।

बाबा कहते हैं मैं तुमको सब शास्त्रों-वेदों का सार ब्रह्मा द्वारा सुनाता हूँ। ब्रह्मा को हाथ में शास्त्र दिखाते हैं। शास्त्र तो एक होना चाहिए ना। तो अब ब्रह्मा के हाथ में है – शिरोमणी गीता। बाबा बैठ ब्रह्मा द्वारा सब वेदों-ग्रंथों का सार बताते हैं। उनको गीता कहा जाता है। बाकी कोई शास्त्र नहीं हैं। बुद्धि में गीता है। गीता में भगवानुवाच है कि काम महाशत्रु है तो गीता सुनाने वालों को भी कहना चाहिए कि इन पर जीत पहनो तो स्वर्ग के मालिक बनेंगे। वह तो ऐसे कभी नहीं कहेंगे। सब झूठ बोलते रहते हैं। हम भी झूठ बोलते थे। हमने भी बहुत गुरू किये। अर्जुन को भी कहा है ना इन सबको भूलो। तुम्हारे इन गुरूओं को भी पावन करने वाला मैं हूँ। अब तुम जो पढ़े हो वह भूल जाओ। न सुना हुआ अब मैं सुनाता हूँ। अब तुम कौड़ी से हीरे जैसा बनते हो। अब यह सब ख़लास होना है। तुम बच्चों ने विनाश-स्थापना देखी है, इसलिए पुरुषार्थ कर रहे हैं, बाबा के पास सबका पोतामेल रहता है। लिखकर देते हैं – मैं ऐसा पापी था, यह किया क्योंकि धर्मराज बाबा कहते हैं – हमको सुनाने से आधा माफ कर देंगे। वह सब प्रायवेट रहता है। पढ़ा और फिर फाड़ दिया। यह ऑलमाइटी गवर्मेन्ट है। अभी अजुन छोटा झाड़ है, इसका माली खुद भगवान है। धीरे-धीरे वृद्धि होगी। माया झट मुरझा देती है। कहाँ की बात कहाँ कहानी के रूप में बना दी है। कहाँ हमारे लक्ष्मी-नारायण मर्यादा पुरुषोत्तम और पुरुषोत्मनी महान् पवित्र थे। यहाँ तो सब अपवित्र हैं। वह था पवित्र गृहस्थ आश्रम धर्म। यहाँ अपवित्र गृहस्थ अधर्म है। पूछते हैं फिर दुनिया कैसे चलेगी? बाबा कहते हैं यह दुनिया रहनी ही नहीं है। ख़लास होनी है। यह अन्तिम जन्म है इसलिए काम कटारी चलाना छोड़ दो। तुमको जन्म-जन्मान्तर विकारी माँ-बाप से विष का वर्सा मिलता आया। अब मैं ऑर्डीनेन्स निकालता हूँ – विष का वर्सा बंद करो। नहीं तो वैकुण्ठ जा नहीं सकेंगे। विकारों पर जीत पहनेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे, नहीं तो पाताल। राम राज्य आकाश तो रावण राज्य पाताल। यह ड्रामा है। इस समय देवता धर्म वाले और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं। अपने असली धर्म को नहीं जानते हैं। कोई धर्म में थोड़ा सुख देखा तो झट कनवर्ट हो जाते हैं। इसको कहते है हाफ कास्ट। यहाँ भी जो ब्राह्मण कास्ट में आये लेकिन पुरुषार्थ में कमजोर हैं तो प्रजा पद मिलेगा। साफ बात बतलाते हैं।

यह जो कहते हैं ऋषि-मुनि आदि त्रिकालदर्शी थे, लेकिन जब जगत मिथ्यम कहते हैं तो फिर त्रिकालदर्शी कैसे होंगे? बहुत गपोड़े लगाये हैं। कहते हैं फलाना निर्वाणधाम गया – यह भी गपोड़ा। सबको पार्ट बजाकर यहाँ हाजिर होना है। सबका गाइड बाबा है। बाबा किसी से भक्ति छुड़ाते नहीं। जब तक परिपक्व अवस्था नहीं है तो भल भक्ति करते रहें। याद रखना – हम कोई का गुरू नहीं। जैसे तुम सुनते हो वैसे हम भी सुन रहे हैं शिवबाबा से। हम सबका गुरू वह एक निराकार है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अन्तिम जन्म में पवित्रता की प्रतिज्ञा कर पान का बीड़ा उठाना है। आत्मा को काले से गोरा सतोप्रधान बनाने का पुरुषार्थ करना है।

2) अविनाशी प्रालब्ध बनाने के लिए निश्चयबुद्धि बन पढ़ाई रेग्युलर पढ़नी है। बाकी जो अब तक पढ़ा है वह बुद्धि से भूल जाना है।

वरदान:- एकरस और निरन्तर खुशी की अनुभूति द्वारा नम्बरवन लेने वाले अखुट खजाने से सम्पन्न भव
नम्बरवन में आने के लिए एकरस और निरन्तर खुशी की अनुभूति करते रहो, किसी भी झमेले में नहीं जाओ। झमेले में जाने से खुशी का झूला ढीला हो जाता है फिर तेज नहीं झूल सकते इसलिए सदा और एकरस खुशी के झूले में झूलते रहो। बापदादा द्वारा सभी बच्चों को अविनाशी, अखुट और बेहद का खजाना मिलता है। तो सदा उन खजानों की प्राप्ति में एक-रस और सम्पन्न रहो। संगमयुग की विशेषता है अनुभव, इस युग की विशेषता का लाभ उठाओ।
स्लोगन:- मन्सा महादानी बनना है तो रूहानी स्थिति में सदा स्थित रहो।
Font Resize