daily murli 26 january

TODAY MURLI 26 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

26/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Brahma Baba is the chariot of Shiv Baba and the parts of both exist together. There mustn’t be the slightest doubt about this.
Question: What method, which is called a very great sin, have people created to be freed from sorrow?
Answer: When people are unhappy, they look for many ways to kill themselves. They think of committing suicide, because they believe that they will be freed from sorrow by doing that. However, there is no greater sin than that. They become trapped in even more sorrow because this is the world of limitless sorrow.

Om shanti. The Father asks you children; the Supreme Soul asks you souls: Do you know that you are sitting in front of the Supreme Father, the Supreme Soul? He doesn’t have a chariot of His own. You have the faith, do you not, that the Father resides in the centre of this forehead? The Father, Himself, says that He sits in the centre of this one’s forehead and that He takes his body on loan. The soul is in the centre of the forehead and so the Father also sits there. There is Brahma and there is also Shiv Baba. If Brahma weren’t there, how could Shiv Baba speak? You have always been remembering Shiv Baba up there. You children understand that you are now sitting here with the Father. It isn’t that Shiv Baba is up above. His image is worshipped here. These matters have to be understood very well. You know that the Father is the Ocean of Knowledge. Where does He speak the knowledge? Does He speak it from up there? He has come down here. He speaks it through the body of Brahma. Some say that they don’t believe in Brahma, but Shiv Baba, Himself says, through the body of Brahma, “Remember Me!” This is something to be understood. However, Maya is very powerful; she makes you turn your faces completely away and puts you at the very back. Shiv Baba has now put you in front of Himself. You are personally sitting in front of Him. Therefore, what state will those who believe that Brahma is nothing attain? They will attain degradation; they don’t have any knowledge at all. People call out: O God, the Father! Does that God, the Father, hear them? People say to Him: Liberator, come! Will He liberate them while sitting up there? The Father comes at the most elevated confluence age of every cycle. If you put aside the one in whom He comes, what would you call that? Number one tamopradhan! Even though they have faith, Maya completely turns their faces away. She has so much power that she makes them completely not worth a penny. There are such ones at some centres and this is why the Father tells you to remain very cautious. Even though you continue to say what you’ve heard, that becomes like the example of the pundit. There is the story of the pundit that Baba tells. He said to others that they could cross the river by chanting the name of Rama. That is a story that has been made up. At this time you are going from the ocean of poison to the ocean of milk by having remembrance of the Father. They have made up many religious stories on the path of devotion. Such things don’t happen. It’s just a story that has been made up. That pundit told others to do this but he didn’t do it himself at all. If someone still continues to indulge in vice while telling others to become viceless, what effect could that have on them? There are even some Brahma Kumars and Kumaris who don’t have faith themselves and yet continue to tell this knowledge to others. This is why it is said that those who listen to this knowledge can go ahead of those who give knowledge. Those who serve many are definitely loved. If a pundit turns out to be false, who would love him? Their love would be transferred to those who stay in remembrance practically. Maya even swallows very good maharathis; many have been swallowed. Baba explains: You haven’t reached your karmateet stage yet. On the one hand, the war will take place and, on the other hand, you will reach your karmateet stage; they are completely connected. Then, when the war ends, you will be transferred. The rosary of Rudra is created first. No one else knows about these things. You understand that destruction is just ahead. You are now in the minority and others are in the majority, so who would believe you? When your number has grown, many will be pulled by the power of your yoga to come here. The more rust that is removed from you, the more you will be filled with power. It isn’t that Baba is the One who knows everything (Janijananhar). He comes here and sees everyone and knows everyone’s stage. Would a father not know his children’s stage? He knows everything about it. There is no question of being Antaryami about that. You haven’t yet reached your karmateet stage. Devilish ways of talking and behaving are very well known. You have to make your behaviour divine. Deities are full of all virtues. You now have to become like them. There is so much difference between devils and deities! However, Maya doesn’t leave anyone alone; she makes them like a “Touch-me-not” plant. She completely kills some. There are the five steps (floors). When there is body consciousness, you fall right to the bottom. When you fall, you die. Nowadays, people find so many ways to kill themselves. They jump from the 21st. floor so that they are completely finished off. They don’t want to end up in hospital and continue to experience pain and suffering. If someone falls from the fifth floor but doesn’t die, he continues to experience so much pain. Some even set fire to themselves. If that person is saved by someone, he has to endure so much pain. If he burns away completely, his soul runs away. This is why they commit suicide and completely destroy their bodies. They believe that, by leaving their bodies, they will be freed from sorrow. However, that is a great sin. They have to suffer even more sorrow because this is the world of limitless sorrow. There is limitless happiness there. You children understand that you are now returning from the land of sorrow to the land of happiness. You now have to remember the Father who makes you into the masters of the land of happiness. The Father explains through this one and there is his image too. It is said: Establishment of heaven through Brahma. You say: Baba, we have come here to claim our inheritance of heaven from You many times. The Father only comes at the confluence age when the world has to change. The Father says: I have come to liberate you children from sorrow and take you to the pure world of happiness. You called out: O Purifier! You didn’t understand that you were calling out to the Great Death to take you back home from this dirty world. Baba would definitely come. Only when we all die will there be peace. People continue to speak of peace. Peace is in the supreme abode. However, since there are still so many human beings in this world, how can there be peace here? There was peace and happiness in the golden age. Now, in the iron age, there are innumerable religions. When all of them are destroyed, there will then be establishment of the one religion. Only then can there be peace and happiness. Only after the cries of distress will there be the cries of victory. As you make further progress, you will see just how hot the market of death becomes! Destruction definitely has to take place. The Father comes and inspires establishment of the one religion and He also teaches Raj Yoga. All the other innumerable religions will come to an end. Nothing has been mentioned in the Gita. They say that the five Pandavas and their dog melted away in the Himalayas. What was the result of that then? They have shown annihilation. There will be a flood, but the whole world cannot be flooded. Bharat is the imperishable pure land. In that, too, Abu is the purest pilgrimage place, where the Father comes to grant salvation to all through you children. The Dilwala Temple is such a good memorial with so much significance! However, those who built it didn’t understand this, but at least they were sensible. In the copper age, they were definitely still sensible. In the iron age they are tamopradhan. In the copper age, they at least had tamo intellects! This temple where you are sitting is the most elevated of all temples. Now, you will continue to see how there will be wholesale death during destruction. There will be a great, wholesale war. Everything will be destroyed. Only the one land will remain. Bharat will be very small and all the rest will be destroyed. Heaven will be so small! You now have this knowledge in your intellects. It takes a long time to make some people understand. This is the most elevated confluence age. There are so many human beings here whereas there will be so few there! Everything will be destroyed. The history and geography of the world will repeat from the beginning. It will definitely repeat from the start of heaven; it would not start at the end. This world drama cycle is eternal and continues to turn. On this side is the iron age and on the other side is the golden age. We are now at the confluence. Only you understand this. The Father has to come. Therefore, He definitely does need a chariot. The Father explains that you are now going home. You then have to become Lakshmi and Narayan. Therefore, you must also imbibe divine virtues. You children have been told what the kingdom of Ravan is and what the kingdom of Rama is. The Father sits here and explains the secrets of this play, how you become pure from impure and impure from pure. The Father is the knowledge-full One and the Seed. He is the sentient Being. Only He comes and explains to you. Only the Father asks you: Have you understood the secrets of the whole kalpa tree? What happens in this? For how long do you play your parts in this? For half the cycle, it is the deity sovereignty. For the other half cycle, it is the devilish kingdom. This knowledge stays in the intellects of the good children. The Father makes you equal to Himself. Teachers too are numberwise. Some teachers become upset. They teach many and then they themselves disappear. Among the younger children, there are some with many different sanskars. Some are number one devils and some are worthy of going to the land of angels. Some neither take knowledge nor reform their characters but just continue to cause sorrow for others. It is portrayed in the scriptures how devils used to come secretly and sit among them. As devils, they cause so many difficulties! All of that continues to happen. The highest-on-high Father has to come to establish heaven. Maya too is very powerful. Even after you have donated everything, Maya turns your intellects away. Maya definitely eats half of you children. This is why it is said that Maya is very strong. Maya has been ruling for half the cycle and so she would definitely be very strong. What would be the condition of those who are defeated by Maya? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never become like a “Touch-me-not” plant. Imbibe divine virtues and reform your character.
  2. In order to receive the Father’s love do service. However, you yourself also have to imbibe the things that you tell others to imbibe. Make full effort to reach your karmarteet stage.
Blessing: May you be a powerful server who gives the experience of spirituality with your hard work and greatness.
Give all souls who come in connection with you the experience of spiritual power. Create such a physical and subtle stage that souls who come to you experience their own form and spirituality. In order to do such powerful service, you serviceable children have to stay beyond the fluctuation of wasteful thoughts, wasteful words and wasteful deeds and become concentrated. This means you must make the vow of staying in your spirituality. With this vow, you will be able to show the miracle of the Sun of Knowledge.
Slogan: Those who fly in the plane of blessings from the Father and everyone are flying yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

26-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – ब्रह्मा बाबा शिवबाबा का रथ है, दोनों का इकट्ठा पार्ट चलता है, इसमें जरा भी संशय नहीं आना चाहिए”
प्रश्नः- मनुष्य दु:खों से छूटने के लिए कौन सी युक्ति रचते हैं, जिसको महापाप कहा जाता है?
उत्तर:- मनुष्य जब दु:खी होते हैं तो स्वयं को मारने के (खत्म करने के) अनेक उपाय रचते हैं। जीव घात करने की सोचते हैं, समझते हैं इससे हम दु:खों से छूट जायेंगे। परन्तु इन जैसा महापाप और कोई नहीं। वह और ही दु:खों में फँस जाते हैं क्योंकि यह है ही अपार दु:खों की दुनिया।

ओम् शान्ति। बच्चों से बाप पूछते हैं, आत्माओं से परमात्मा पूछते हैं – यह तो जानते हो हम परमपिता परमात्मा के सामने बैठे हैं। उनको अपना रथ तो है नहीं। यह तो निश्चय है ना – इस भृकुटी के बीच में बाप का निवास स्थान है। बाप खुद कहते हैं मैं इनकी भृकुटी के बीच में बैठता हूँ, इनका शरीर लोन पर लेता हूँ। आत्मा भृकुटी के बीच है तो बाप भी वहीं बैठते हैं। ब्रह्मा है तो शिवबाबा भी है। ब्रह्मा नहीं हो तो शिवबाबा बोलेंगे कैसे? ऊपर में शिवबाबा को तो सदैव याद करते आये। अब तुम बच्चों को पता है हम बाप के पास यहाँ बैठे हैं। ऐसे नहीं कि शिवबाबा ऊपर में है, उनकी प्रतिमा यहाँ पूजी जाती है। यह बातें बहुत समझने की हैं। तुम तो जानते हो बाप ज्ञान का सागर है। ज्ञान कहाँ से सुनाते हैं? क्या ऊपर से सुनाते हैं? यहाँ नीचे आया है। ब्रह्मा तन से सुनाते हैं। कई कहते हैं हम ब्रह्मा को नहीं मानते। परन्तु शिवबाबा खुद कहते हैं ब्रह्मा तन द्वारा कि मुझे याद करो। यह समझ की बात है ना। लेकिन माया बड़ी जबरदस्त है। एकदम मुँह फिराकर पिछाड़ी कर देती है। अब तुम्हारा कांध शिवबाबा ने सामने किया है। सम्मुख बैठे हो फिर जो ऐसे समझते हैं ब्रह्मा तो कुछ नहीं, उनकी क्या गति होगी! दुर्गति को पा लेते हैं। कुछ भी ज्ञान नहीं। मनुष्य पुकारते भी हैं ओ गाड फादर। फिर वह गाड फादर सुनता है क्या? उनको कहते हैं ना लिबरेटर आओ या वहाँ बैठे लिबरेट करेंगे? कल्प-कल्प पुरुषोत्तम संगमयुग पर ही बाप आते हैं, जिसमें आते हैं उनको ही अगर उड़ा दें तो क्या कहेंगे! नम्बरवन तमोप्रधान। निश्चय होते हुए भी माया एकदम मुँह फेर देती है। इतना उसमें बल है जो एकदम वर्थ नाट ए पेनी बना देती है। ऐसे भी कोई न कोई सेन्टर्स पर हैं इसलिए बाप कहते हैं खबरदार रहना। भल किसको सुनाते भी रहें सुनी हुई बातें, परन्तु वह जैसे पंडित मिसल हो जाते। जैसे बाबा पंडित की कहानी बताते हैं ना। उसने कहा राम-राम कहने से सागर पार हो जायेंगे। यह भी एक कहानी बनाई हुई है। इस समय तुम बाप की याद से विषय सागर से क्षीरसागर में जाते हो ना। उन्होंने भक्तिमार्ग में ढेर कथायें बना दी हैं। ऐसी बातें तो होती नहीं। यह एक कहानी बनी हुई है। पंडित औरों को कहता था, खुद बिल्कुल चट खाते में। खुद विकारों में जाते रहना और दूसरों को कहना निर्विकारी बनो, उनका क्या असर होगा। ऐसे भी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं – खुद निश्चय में नहीं, दूसरों को सुनाते रहते हैं इसलिए कहाँ-कहाँ सुनाने वाले से भी सुनने वाले तीखे चले जाते हैं। जो बहुतों की सेवा करते हैं वह जरूर प्यारे तो लगते हैं ना। पंडित झूठा निकल पड़े तो उनको कौन प्यार करेंगे! फिर प्यार उन पर चला जायेगा जो प्रैक्टिकल में याद करते हैं। अच्छे-अच्छे महारथियों को भी माया हप कर लेती है। बहुत हप हो गये। बाबा भी समझाते हैं अभी कर्मातीत अवस्था नहीं हुई है। एक तरफ लड़ाई होगी, दूसरे तरफ कर्मातीत अवस्था होगी। पूरा कनेक्शन है। फिर लड़ाई पूरी हो जाने से ट्रांसफर हो जायेंगे। पहले रूद्र माला बनती है। यह बातें और कोई नहीं जानते। तुम समझते हो विनाश सामने खड़ा है। अब तुम हो मैनारिटी, वह है मैजारिटी। तो तुमको कौन मानेगा। जब तुम्हारी वृद्धि हो जायेगी फिर तुम्हारे योगबल से बहुत खींचकर आयेंगे। जितना तुमसे कट (जंक) निकलती जायेगी उतना बल भरता जायेगा। ऐसे नहीं बाबा जानी जाननहार है। यहाँ आकर सबको देखते हैं, सबकी अवस्थाओं को जानते हैं। बाप बच्चों की अवस्था को नहीं जानेंगे क्या? सब कुछ मालूम पड़ता है। इसमें अन्तर्यामी की कोई बात नहीं। अभी तो कर्मातीत अवस्था हुई नहीं है। आसुरी बातचीत, चलन आदि सब प्रसिद्ध हो जाते हैं। तुम्हें तो दैवी चलन बनानी है। देवतायें सर्वगुण सम्पन्न हैं ना। अब तुमको ऐसा बनना है। कहाँ वह असुर, कहाँ देवतायें! परन्तु माया किसको भी छोड़ती नहीं है, छुई-मुई बना देती है। एकदम मार डालती है। 5 सीढ़ी हैं ना। देह-अभिमान आने से ही ऊपर से एकदम नीचे गिरते हैं। गिरा और मरा। आजकल अपने को मारने लिए कैसे-कैसे उपाय रचते हैं। 21 मार से कूदते हैं, तो एकदम खत्म हो जायें। ऐसा न हो फिर हॉस्पिटल में पड़े रहें। दु:ख भोगते रहें। 5 मंजिल से गिरे और न मरे तो कितना दु:ख भोगते रहेंगे। कोई अपने को आग लगाते हैं। अगर कोई उनको बचा लेते हैं तो उनको कितना दु:ख सहन करना पड़ता है। जल जाए तो आत्मा तो भाग जायेगी ना! इसलिए जीवघात करते हैं, शरीर को खत्म कर देते हैं। समझते हैं शरीर छोड़ने से दु:खों से छूट जायेंगे। परन्तु यह भी महापाप है, और भी अधिक दु:ख भोगने पड़ते हैं क्योंकि यह है ही अपार दु:खों की दुनिया, वहाँ हैं अपार सुख। तुम बच्चे समझते हो अभी हम रिटर्न होते हैं, दु:खधाम से सुखधाम में जाते हैं। अब बाप जो सुखधाम का मालिक बनाते हैं उनको याद करना है। इन द्वारा बाप समझाते हैं, चित्र भी हैं ना। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना। तुम कहते हो बाबा हम अनेक बार आपसे स्वर्ग का वर्सा लेने आये हैं। बाप भी संगम पर ही आते हैं जबकि दुनिया को बदलना है। तो बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को दु:ख से छुड़ाकर सुख की पावन दुनिया में ले जाने। बुलाते भी हैं – हे पतित-पावन…. यह थोड़ेही समझते हैं कि हम महाकाल को बुलाते हैं कि हमको इस छी-छी दुनिया से घर ले चलो। जरूर बाबा आयेगा। हम मरेंगे तब तो पीस होगी ना। शान्ति-शान्ति करते रहते हैं। शान्ति तो है परमधाम में। परन्तु इस दुनिया में शान्ति कैसे हो – जब तक इतने ढेर मनुष्य हैं! सतयुग में सुख-शान्ति थी। अभी कलियुग में अनेक धर्म हैं। वह जब खत्म हों तब एक धर्म की स्थापना हो, तब तो सुख-शान्ति हो ना! हाहाकार के बाद ही फिर जय-जयकार होगी। आगे चल देखना मौत का बाजार कितना गर्म होता है! विनाश जरूर होना है। एक धर्म की स्थापना बाप आकर कराते हैं। राजयोग भी सिखाते हैं। बाकी सब अनेक धर्म खलास हो जायेंगे। गीता में कुछ दिखाया नहीं है। 5 पाण्डव और कुत्ता हिमालय पर गल गये। फिर रिजल्ट क्या? प्रलय दिखा दी है। जलमई भल होती है परन्तु सारी दुनिया जलमई हो नहीं सकती। भारत तो अविनाशी पवित्र खण्ड है। उसमें भी आबू सबसे पवित्र तीर्थ स्थान है, जहाँ बाप आकर तुम बच्चों के द्वारा सर्व की सद्गति करते हैं। दिलवाला मन्दिर में कितना अच्छा यादगार है। कितना अर्थ सहित है। परन्तु जिन्होंने बनाया है वह नहीं जानते हैं। फिर भी अच्छे समझू तो थे ना। द्वापर में जरूर अच्छे समझदार होंगे। कलियुग में होते हैं तमोप्रधान। द्वापर में फिर भी तमो बुद्धि होंगे। सब मन्दिरों से यह ऊंच है, जहाँ तुम बैठे हो।

अभी तुम देखते रहेंगे विनाश में होलसेल मौत होगा। होलसेल महाभारी लड़ाई लगेगी। सब खत्म हो जायेंगे। बाकी एक खण्ड रहेगा। भारत बहुत छोटा होगा, बाकी सब खलास हो जायेंगे। स्वर्ग कितना छोटा होगा। अभी यह ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है। कोई को समझाने में भी देरी लगती है। यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। यहाँ कितने ढेर मनुष्य हैं और वहाँ कितने थोड़े मनुष्य होंगे, यह सब खत्म हो जायेंगे। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होगी शुरू से। जरूर स्वर्ग से रिपीट करेंगे। पिछाड़ी में तो नहीं आयेंगे। यह ड्रामा का चक्र अनादि है, जो फिरता ही रहता है। इस तरफ कलियुग, उस तरफ है सतयुग। हम संगम पर हैं। यह भी तुम समझते हो। बाप आते हैं, बाप को रथ तो जरूर चाहिए ना। तो बाप समझाते हैं, अभी तुम घर जाते हो। फिर यह लक्ष्मी-नारायण बनना है, तो दैवीगुण भी धारण करने चाहिए।

यह भी तुम बच्चों को समझाया जाता है रावण राज्य और राम राज्य किसको कहा जाता है। पतित से पावन, फिर पावन से पतित कैसे बनते हैं! यह खेल का राज़ बाप बैठ समझाते हैं। बाप नॉलेजफुल, बीजरूप है ना! चैतन्य है। वही आकर समझाते हैं। बाप ही कहेंगे सारे कल्प वृक्ष का राज़ समझा? इनमें क्या-क्या होता है? तुमने इसमें कितना पार्ट बजाया है? आधाकल्प है दैवी स्वराज्य। आधाकल्प है आसुरी राज्य। अच्छे-अच्छे जो बच्चे हैं उन्हों को बुद्धि में नॉलेज रहती है। बाप आपसमान बनाते हैं ना! टीचर्स में भी नम्बरवार होते हैं। कई तो टीचर होकर भी फिर बिगड़ पड़ते हैं। बहुतों को सिखाकर फिर खुद खत्म हो गये। छोटे-छोटे बच्चों में भिन्न-भिन्न संस्कार वाले होते हैं। कोई तो देखो नम्बरवन शैतान, कोई फिर परिस्तान में जाने लायक। कई हैं जो न ज्ञान उठाते, न अपनी चलन सुधारते, सबको दु:ख ही देते रहते हैं। यह भी शास्त्रों में दिखाया है कि असुर आकर छिपकर बैठते थे। असुर बन कितनी तकलीफ देते हैं। यह तो सब होता रहता है। ऊंच ते ऊंच बाप को ही स्वर्ग की स्थापना करने आना पड़ता है। माया भी बड़ी जबरदस्त है। दान देते हैं फिर भी माया बुद्धि फिरा देती है। आधा को जरूर माया खायेगी, तब तो कहते हैं माया बड़ी दुस्तर है। आधाकल्प माया राज्य करती है तो जरूर इतनी पहलवान होगी ना। माया से हारने वाले की क्या हालत हो जाती है! अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी भी छुई-मुई नहीं बनना है। दैवीगुण धारण कर अपनी चलन सुधारनी है।

2) बाप का प्यार पाने के लिए सेवा करनी है, लेकिन जो दूसरों को सुनाते, वह स्वयं धारण करना है। कर्मातीत अवस्था में जाने का पूरा-पूरा पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- मेहनत और महानता के साथ रूहानियत का अनुभव कराने वाले शक्तिशाली सेवाधारी भव
जो भी आत्मायें आपके सम्पर्क में आती हैं उन्हें रूहानी शक्ति का अनुभव कराओ। ऐसी स्थूल और सूक्ष्म स्टेज बनाओ जिससे आने वाली आत्मायें अपने स्वरूप का और रूहानियत का अनुभव करें। ऐसी शक्तिशाली सेवा करने के लिए सेवाधारी बच्चों को व्यर्थ संकल्प, व्यर्थ बोल, व्यर्थ कर्म की हलचल से परे एकाग्रता अर्थात् रूहानियत में रहने का व्रत लेना पड़े। इसी व्रत से ज्ञान सूर्य का चमत्कार दिखला सकेंगे।
स्लोगन:- बाप और सर्व की दुआओं के विमान में उड़ने वाले ही उड़ता योगी हैं।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 January 2020

26-01-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 13-11-85 मधुबन

संकल्प, संस्कार, सम्बन्ध बोल और कर्म में नवीनता लाओ

आज नई दुनिया के नई रचना के रचयिता बाप अपने नई दुनिया के अधिकारी बच्चों को अर्थात् नई रचना को देख रहे हैं। नई रचना सदा ही प्यारी लगती है। दुनिया के हिसाब से पुराने युग में नया वर्ष मनाते हैं। लेकिन आप नई रचना के नये युग की, नई जीवन की अनुभूति कर रहे हो। सब नया हो गया। पुराना समाप्त हो नया जन्म नई जीवन प्रारम्भ हो गई। जन्म नया हुआ तो जन्म से जीवन स्वत: ही बदलती है। जीवन बदलना अर्थात् संकल्प, संस्कार, सम्बन्ध सब बदल गया अर्थात् नया हो गया। धर्म नया, कर्म नया। वह सिर्फ वर्ष नया कहते हैं। लेकिन आप सबके लिए सब नया हो गया। आज के दिन अमृतवेले से नये वर्ष की मुबारक तो दी लेकिन सिर्फ मुख से मुबारक दी वा मन से? नवीनता का संकल्प लिया? इन विशेष तीन बातों की नवीनता का संकल्प किया? संकल्प, संस्कार और सम्बन्ध। संस्कार और संकल्प नया अर्थात् श्रेष्ठ बन गया। नया जन्म, नई जीवन होते हुए भी अब तक पुराने जन्म वा जीवन के संकल्प, संस्कार वा सम्बन्ध रह तो नहीं गये हैं? अगर इन तीनों बातों में से कोई भी बात में अंश मात्र पुरानापन रहा हुआ है तो यह अंश नई जीवन का नये युग का, नये सम्बन्ध का, नये संस्कार का सुख वा सर्व प्राप्ति से वंचित कर देगा। कई बच्चे ऐसे बापदादा के आगे अपने मन की बातें रुह-रुहान में कहते रहते हैं। बाहर से नहीं कहते। बाहर से तो कोई भी पूछता है – कैसे हो? तो सब यही कहते हैं कि बहुत अच्छा क्योंकि जानते हैं बाहर-यामी आत्मायें अन्दर को क्या जानें। लेकिन बाप से रुह-रुहान में छिपा नहीं सकते। अपने मन की बातों में यह जरूर कहते ब्राह्मण तो बन गये, शूद्र पन से किनारा कर लिया लेकिन जो ब्राह्मण जीवन की महानता, विशेषता – सर्वश्रेष्ठ प्राप्तियों का वा अतीन्द्रिय सुख का, फरिश्तेपन के डबल लाइट जीवन का, ऐसा विशेष अनुभव जितना होना चाहिए उतना नहीं होता। जो वर्णन इस श्रेष्ठ युग के श्रेष्ठ जीवन का है, ऐसा अनुभव, ऐसी स्थिति बहुत थोड़ा समय होती। इसका कारण क्या? जब ब्राह्मण बने तो ब्राह्मण जीवन के अधिकार का अनुभव नहीं होता, क्यों? है राजा का बच्चा लेकिन संस्कार भिखारीपन के हो तो उनको क्या कहेंगे? राजकुमार कहेंगे? यहाँ भी नया जन्म, नई ब्राह्मण जीवन और फिर भी पुराने संकल्प वा संस्कार इमर्ज हों वा कर्म में हों तो क्या उसे ब्रह्माकुमार कहेंगे? वा आधा शूद्र कुमार और आधा ब्रह्माकुमार। ड्रामा में एक खेल दिखाते हो ना आधा सफेद आधा काला। संगमयुग इसको तो नहीं समझा है। संगमयुग अर्थात् नया युग। नया युग तो सब नया।

बापदादा आज सबकी आवाज सुन रहे थे – नये वर्ष की मुबारक हो। कार्डस भी भेजते पत्र भी लिखते लेकिन कहना और करना दोनों एक हैं? मुबारक तो दी, बहुत अच्छा किया। बापदादा भी मुबारक देते हैं। बापदादा भी कहते सबके मुख के बोल में अविनाशी भव का वरदान। आप लोग कहते हो ना मुख में गुलाब, बापदादा कहते मुख के बोल में अविनाशी वरदान हो। आज से सिर्फ एक शब्द याद रखना – “नया”। जो भी संकल्प करो, बोल बोलो, कर्म करो यही चेक करो याद रखो कि नया है? यही पोतामेल चौपड़ा, रजिस्टर आज से शुरू करो। दीपमाला में चौपड़े पर क्या करते हैं? स्वास्तिका निकालते हैं ना। गणेश। और चारों ही युग में बिन्दी जरूर लगाते हैं। क्यों लगाते हैं? किसी भी कार्य को प्रारम्भ करते समय स्वास्तिका वा गणेश नम: जरूर कहते हैं। यह किसकी यादगार है? स्वास्तिका को भी गणेश क्यों कहते? स्वास्तिका स्वस्थिति में स्थित होने का और पूरी रचना की नॉलेज का सूचक है। गणेश अर्थात् नॉलेजफुल। स्वास्तिका के एक चित्र में पूरी नॉलेज समाई हुई है। नॉलेजफुल की स्मृति का यादगार गणेश वा स्वास्तिका दिखाते हैं। इसका अर्थ क्या हुआ? कोई भी कार्य की सफलता का आधार है – नॉलेजफुल अर्थात् समझदार, ज्ञान स्वरूप बनना। ज्ञान स्वरूप समझदार बन गये तो हर कर्म श्रेष्ठ और सफल होगा ना। वो तो सिर्फ कागज़ पर यादगार की निशानी लगा देते हैं लेकिन आप ब्राह्मण आत्मायें स्वयं नॉलेजफुल बन हर संकल्प करेंगी तो संकल्प और सफलता दोनों साथ-साथ अनुभव करेंगे। तो आज से यह दृढ़ संकल्प के रंग द्वारा अपने जीवन के चौपड़े पर हर संकल्प संस्कार नया ही होना है। होगा, यह भी नहीं। होना ही है। स्वस्थिति में स्थित हो यह श्रीगणेश अर्थात् आरम्भ करो। स्वयं श्रीगणेश बन करके आरम्भ करो। ऐसे नहीं सोचो यह तो होता ही रहता है। संकल्प बहुत बार करते, लेकिन संकल्प दृढ़ हो। जैसे फाउन्डेशन में पक्का सीमेन्ट आदि डालकर मजबूत किया जाता है ना! अगर रेत का फाउण्डेशन बना दें तो कितना समय चलेगा? तो जिस समय संकल्प करते हो उस समय कहते, करके देखेंगे, जितना हो सकेगा करेंगे। दूसरे भी तो ऐसे ही करते हैं। यह रेत मिला देते हो, इसीलिए फाउन्डेशन पक्का नहीं होता। दूसरों को देखना सहज लगता है। अपने को देखने में मेहनत लगती है। अगर दूसरों को देखने चाहते हो, आदत से मजबूर हो तो ब्रह्मा बाप को देखो। वह भी तो दूसरा हुआ ना, इसलिए बापदादा ने दीपावली का पोतामेल देखा। पोतामेल में विशेष कारण, ब्राह्मण बनते भी ब्राह्मण जीवन की अनुभूति न होना। जितना होना चाहिए उतना नहीं होता। इसका विशेष कारण है – परदृष्टि, परचिंतन, परपंच में जाना। परिस्थितियों के वर्णन और मनन में ज्यादा रहते हैं, इसलिए स्वदर्शन चक्रधारी बनो। स्व से पर खत्म हो जायेगा। जैसे आज नये वर्ष की सबने मिलकर मुबारक दी, ऐसे हर दिन नया दिन, नई जीवन, नया संकल्प, नये संस्कार, स्वत: ही अनुभव करेंगे। और मन से हर घड़ी बाप के प्रति, ब्राह्मण परिवार के प्रति बधाई के शुभ उमंग स्वत: ही उत्पन्न होते रहेंगे। सबकी दृष्टि में मुबारक, बधाई, ग्रीटिंग्स की लहर होगी। तो ऐसे आज के मुबारक शब्द को अविनाशी बनाओ। समझा। लोग पोतामेल रखते हैं। बाप ने पोतामेल देखा। बापदादा को बच्चों पर रहम आता है कि सारा मिलते भी अधूरा क्यों लेते? नाम नया ब्रह्माकुमार वा कुमारी और काम मिक्स क्यों? दाता के बच्चे हो, विधाता के बच्चे हो, वरदाता के बच्चे हो। तो नये वर्ष में क्या याद रखेंगे? सब नया करना है अर्थात् ब्राह्मण जीवन की मर्यादा का सब नया। नया का अर्थ कोई मिक्सचर नहीं करना। चतुर भी बहुत बन गये हैं ना। बाप को भी पढ़ाते हैं। कई बच्चे कहते हैं ना – बाबा ने कहा था ना नया करना है, तो यह नया हम कर रहे हैं। लेकिन ब्राह्मण जीवन की मर्यादा प्रमाण नया हो। मर्यादा की लकीर तो ब्राह्मण जीवन, ब्राह्मण जन्म से बापदादा ने दे दी है। समझा नया वर्ष कैसे मनाना है। सुनाया ना – 18 अध्याय शुरू हो रहा है।

गोल्डन जुबली के पहले विश्वविद्यालय की गोल्डन जुबली है। ऐसे नहीं समझना कि सिर्फ 50 वर्ष वालों की गोल्डन जुबली है। लेकिन यह ईश्वरीय कार्य की गोल्डन जुबली है। स्थापना के कार्य में जो भी सहयोगी हो चाहे दो वर्ष के हों, चाहे 50 वर्ष के हों लेकिन दो वर्ष वाले भी अपने को ब्रह्माकुमार कहते हैं ना या और कोई नाम कहते। तो यह ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों के रचना की गोल्डन जुबली है, इसमें सब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं। गोल्डन जुबली तक अपने में गोल्डन एजड अर्थात् सतोप्रधान संकल्प संस्कार इमर्ज करने हैं। ऐसी गोल्डन जुबली मनानी है। यह तो निमित्त मात्र रसम रिवाज की रीति से मनाते हो लेकिन वास्तविक गोल्डन जुबली गोल्डन एजड बनने की जुबली है। कार्य सफल हुआ अर्थात् कार्य अर्थ निमित्त आत्मायें सफलता स्वरूप बनें। अभी भी समय पड़ा है। इन 3 मास के अन्दर दुनिया की स्टेज के आगे निराली गोल्डन जुबली मनाके दिखाओ। दुनिया वाले सम्मान देते हैं और यहाँ समान की स्टेज की प्रत्यक्षता करनी है। सम्मान देने के लिए कुछ भी करते हो यह तो निमित्त मात्र है। वास्तविकता दुनिया के आगे दिखानी है। हम सब एक हैं, एक के हैं, एकरस स्थिति वाले हैं। एक की लगन में मगन रह एक का नाम प्रत्यक्ष करने वाले हैं, यह न्यारा और प्यारा गोल्डन स्थति का झण्डा लहराओ। गोल्डन दुनिया के नजारे आपके नयनों द्वारा बोल और कर्म द्वारा स्पष्ट दिखाई दे। ऐसी गोल्डन जुबली मनाना। अच्छा-

ऐसे सदा अविनाशी मुबारक के पात्र श्रेष्ठ बच्चों को, अपने हर संकल्प और कर्म द्वारा नये संसार का साक्षात्कार कराने वाले बच्चों को, अपनी गोल्डन एजड स्थिति द्वारा गोल्डन दुनिया आई कि आई ऐसा शुभ आशा का दीपक विश्व की आत्माओं के अन्दर जगाने वाले, सदा जगमगाते सितारों को, सफलता के दीपकों को दृढ़ संकल्प द्वारा नये जीवन का दर्शन कराने वाले, दर्शनीय मूर्त बच्चों को बापदादा का यादप्यार, अविनाशी बधाई, अविनाशी वरदान के साथ नमस्ते।

पदयात्रियों तथा साइकिल यात्रियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

यात्रा द्वारा सेवा तो सभी ने की। जो भी सेवा की उस सेवा का प्रत्यक्ष फल भी अनुभव किया। सेवा की विशेष खुशी अनुभव की है ना। पदयात्रा तो की, सभी ने आपको पदयात्री के रूप में देखा। अभी रूहानी यात्री के रूप में देखें। सेवा के रूप में तो देखा लेकिन अभी इतनी न्यारी यात्रा कराने वाले अलौकिक यात्री हैं, यह अनुभव हो। जैसे इस सेवा में लगन से सफलता को पाया ना। ऐसे अभी रूहानी यात्रा में सफल होना है। मेहनत करते हैं, बहुत अच्छी सेवा करते हैं, सुनाते बहुत अच्छा हैं इन्हों की जीवन बहुत अच्छी है, यह तो हुआ। लेकिन अभी जीवन बनाने लग जाएं, ऐसा अनुभव करें कि इसी जीवन के बिना और कोई जीवन ही नहीं है। तो रूहानी यात्रा का लक्ष्य रख रूहानी यात्रा का अनुभव कराओ। समझा क्या करना है। चलते-फिरते ऐसे ही देखें कि यह साधारण नहीं है। यह रूहानी यात्री हैं तो क्या करना है! स्वयं भी यात्रा में रहो और दूसरों को भी यात्रा का अनुभव कराओ। पद-यात्रा का अनुभव कराया, अभी फरिश्ते पन का अनुभव कराओ। अनुभव करें कि यह इस धरनी के रहने वाले नहीं हैं। यह फरिश्ते हैं। इन्हों के पांव इस धरती पर नहीं रहते। दिन प्रतिदिन उड़ती कला द्वारा औरों को उड़ाना। अभी उड़ाने का समय है। चलाने का समय नहीं है। चलने में समय लगता और उड़ने में समय नहीं लगता। अपनी उड़ती कला द्वारा औरों को भी उड़ाओ। समझा। ऐसे दृष्टि से स्मृति से सभी को सम्पन्न बनाते जाओ। वह समझें कि हमको कुछ मिला है। भरपूर हुए हैं। खाली थे लेकिन भरपूर हो गये। जहाँ प्राप्ति होती है वहाँ सेकण्ड में न्योछावर होते हैं। आप लोगों को प्राप्ति हुई तब तो छोड़ा ना। अच्छा लगा अनुभव किया तब छोड़ा ना। ऐसे तो नहीं छोड़ा। ऐसे औरों को प्राप्ति का अनुभव कराओ। समझा! बाकी अच्छा है! जो भी सेवा में दिन बिताये, वह अपने लिए भी औरों के लिए भी श्रेष्ठ बनायें। उमंग-उत्साह अच्छा रहा! रिजल्ट ठीक रही ना। रूहानी यात्रा सदा रहेगी तो सफलता भी सदा रहेगी। ऐसे नहीं पदयात्रा पूरी की तो सेवा पूरी हुई। फिर जैसे थे वैसे। नहीं। सदा सेवा के क्षेत्र में सेवा के बिना ब्राह्मण नहीं रह सकते। सिर्फ सेवा का पार्ट चेन्ज हुआ। सेवा तो अन्त तक करनी है। ऐसे सेवाधारी हो ना या तीन मास दो मास के सेवाधारी हो! सदा के सेवाधारी सदा ही उमंग-उत्साह रहे। अच्छा। ड्रामा में जो भी सेवा का पार्ट मिलता है उसमें विशेषता भरी हुई है। हिम्मत से मदद का अनुभव किया। अच्छा। स्वयं द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करने का श्रेष्ठ संकल्प रहा क्योंकि जब बाप को प्रत्यक्ष करेंगे तब इस पुरानी दुनिया की समाप्ति होगी, अपना राज्य आयेगा। बाप को प्रत्यक्ष करना अर्थात् अपना राज्य लाना। अपना राज्य लाना है यह उमंग-उत्साह सदा रहता है ना! जैसे विशेष प्रोग्राम में उमंग-उत्साह रहा, ऐसे सदा इस संकल्प का उमंग-उत्साह रहे। समझा।

पार्टियों से:- सुना तो बहुत है! अभी उसी सुनी हुई बातों को समाना है क्योंकि जितना समायेंगे उतना बाप के समान शक्तिशाली बनेंगे। मास्टर हो ना। तो जैसे बाप सर्वशक्तिमान है ऐसे आप सभी भी मास्टर सर्वशक्तिवान अर्थात् सर्व शक्तियों को समाने वाले, बाप समान बनने वाले हो ना। बाप और बच्चों में जीवन के आधार से अन्तर नहीं दिखाई दे। जैसे ब्रह्मा बाप की जीवन देखी तो ब्रह्मा बाप और बच्चे समान दिखाई दें। साकार में तो ब्रह्मा बाप कर्म करके दिखाने के निमित्त बने ना। ऐसे समान बनना अर्थात् मास्टर सर्वशक्तिवान बनना। तो सर्वशक्तियाँ हैं? धारण तो की है लेकिन परसेन्टेज है। जितना होना चाहिए उतना नहीं है। सम्पन्न नहीं है। बनना तो सम्पन्न है ना! तो परसेन्टेज को बढ़ाओ। शक्तियों को समय पर कार्य में लगाना, इसी पर ही नम्बर मिलते हैं। अगर समय पर कार्य में नहीं आती तो क्या कहेंगे? होते भी न होना ही कहेंगे क्योंकि समय पर काम में नही आई। तो चेक करो कि समय प्रमाण जिस शक्ति की आवश्यकता है वह कार्य में लगा सकते हैं? तो बाप समान मास्टर सर्वशक्तिवान प्रत्यक्ष रूप में विश्व को दिखाना है। तब तो विश्व मानेगा कि हाँ सर्वशक्तिमान प्रत्यक्ष हो चुका, यही लक्ष्य है ना! अभी देखेंगे कि गोल्डन जुबली तक नम्बर कौन लेते हैं। अच्छा!

वरदान:- विश्व कल्याण की भावना द्वारा हर आत्मा की सेफ्टी के प्लैन बनाने वाले सच्चे रहमदिल भव
वर्तमान समय कई आत्मायें अपने आपही स्वयं के अकल्याण के निमित्त बन रही हैं, उनके लिए रहमदिल बन कोई प्लैन बनाओ। किसी भी आत्मा के पार्ट को देखकर स्वयं हलचल में नहीं आओ लेकिन उनकी सेफ्टी का साधन सोचो, ऐसे नहीं कि यह तो होता रहता है, झाड को तो झडना ही है। नहीं। आये हुए विघ्नों को खत्म करो। विश्व कल्याणकारी वा विघ्न विनाशक का जो टाइटल है-उस प्रमाण संकल्प, वाणी और कर्म में रहमदिल बन वायुमण्डल को चेंज करने में सहयोगी बनो।
स्लोगन:- कर्मयोगी वही बन सकता है जो बुद्धि पर अटेन्शन का पहरा देता है।

 

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

यदि किसी भी प्रकार का भारीपन अथवा बोझ है तो आत्मिक एक्सरसाइज़ करो। अभी-अभी कर्मयोगी अर्थात् साकारी स्वरूपधारी बन साकार सृष्टि का पार्ट बजाओ, अभी-अभी आकारी फरिश्ता बन आकारी वतनवासी अव्यक्त रूप का अनुभव करो, अभी-अभी निराकारी बन मूलवतनवासी का अनुभव करो, इस एक्सरसाइज़ से हल्के हो जायेंगे, भारीपन खत्म हो जायेगा।

TODAY MURLI 26 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 January 2020

26/01/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
13/11/85

Bring about newness in your thoughts, sanskars, relationships, words and actions.

Today, the Father, the Creator of the new worldly creation, is seeing His rightful children of the new world, that is, He is seeing His new creation. A new creation is always loved. In terms of the world, people celebrate the New Year in the old age. However, you are experiencing the new age and new life of the new creation. Everything has become new. Everything old has ended and a new birth, a new life, has begun. When you have a new birth, then with birth your life automatically changes. “Life change” means your thoughts, sanskars and relationships have all changed, that is, they have become new. Your religion is new and your actions are new. They simply say that it is the New Year, but for all of you, everything has become new. Today, from amrit vela, you have been giving greetings for the New Year. Did you give congratulations simply with words or with your minds? Did you have a thought for newness? Did you have a thought for newness in these three special things: thoughts, sanskars and relationships? For your thoughts and sanskars to be new means they become elevated. Whilst having a new birth and life, the thoughts, sanskars and relationships of the old birth or old life don’t still remain even now, do they? If there is the slightest trace of the old still remaining in any of these three things, that trace will deprive you of all attainment and happiness of a new life, a new age, new relationships and new sanskars. Many children continue to tell these things of their minds to BapDada in their heart-to-heart conversations. They don’t speak about them in words. Externally, if anyone asks them how they are, they all reply that they are very much OK because they feel: What do extroverted souls know of the inner self? However, they cannot hide it from the Father in their heart-to-heart conversations. In the conversation of their minds, they definitely say: I have become a Brahmin, I have stepped away from being a shudra. However, the special experiences that I ought to be having of the greatness and speciality of Brahmin life, of all the most elevated attainments, of supersensuous joy, of a doublelight angelic life, I don’t experience them so much. Whatever they say about this elevated life of the elevated age, they experience that and that stage for a very short time. What is the reason for this? When you have become Brahmins, why are you not able to experience the rights of a Brahmin life? If you are a child of a king and if you have the sanskars of a beggar, what would be said about that? Would you be called a prince? Here, too, if you have a new birth, a new Brahmin life, but, in spite of that, if old thoughts and sanskars are still emerged and in your actions, would you be called a Brahma Kumar? Or, would you be called a half shudra kumar and half Brahma Kumar? You perform a play in which you show half dark and half light. You haven’t understood this to be the confluence age, have you? The confluence age means the new age. In the new age, everything is new.

Today, BapDada was hearing the sound of everyone: Congratulations for the New Year. You send cards, you write letters, but is what you say the same as what you do? You did very well in giving greetings. BapDada also congratulates you. BapDada even says: May there be the blessing of everyone’s words becoming imperishable! You all say: May you have a rose in your mouth! (May whatever you say become true!) BapDada says: Let the words of your mouth have an imperishable blessing in them. From today, simply remember one word, “new”. Whatever thoughts you have, words you speak, actions you perform, check them and see whether they are new. Start this account book, chart or register from today. What do you do with the account books on Deepmala? You draw a swastika on them, do you not? Ganesh (swastika is also called Ganesh). You also definitely put a dot in each of the four sections of the swastika. Why do you put those dots? At the time of beginning any task, you definitely draw a swastika and say, “Salutations to Ganesh.” Whose memorial is this? Why is the swastika called Ganesh? The swastika symbolises being stable in your own stage and having the knowledge of the whole of creation. Ganesh means knowledgefull. All the knowledge is merged in the one picture of the swastika. They show the Ganesh or swastika as a memorial of the awareness of being knowledge-full. What does this mean? The basis of success in any task is to be knowledge-full, that is, to be sensible and an embodiment of knowledge. If you become sensible and an embodiment of knowledge, every action would then be elevated and successful, would it not? Those people simply draw this symbol on paper as a memorial, whereas you Brahmin souls create every thought whilst being knowledge-full yourselves, and you would therefore experience those thoughts and that success at the same time. So, from today, with the colour of this determination, every thought and sanskar has to be new in the account books of your lives. Not that it will happen at some time; it definitely does have to happen! Become stable in your original stage and do this (the practice of remembering Shri Ganesh and drawing a swastika at the start of any auspicious task); that is, begin this now. Become Shri Ganesh yourself and begin it. Don’t think that this happens all the time. You create a thought many times, but let that thought be determined. A foundation is made strong by using cement etc., is it not? If you were to lay a foundation of sand, how long would it last? So, when you have a thought, you say, “I will try it and see” or “I will do as much as I can”. “Others also do the same anyway.” You mix this sand into it, and so, the foundation doesn’t become strong. It feels easy to look at others. It takes a little effort to look at oneself. If you want to look at others, if you are compelled by that habit, then look at Father Brahma. He is also another being. This is why BapDada looked at your charts of Deepmala. The main thing BapDada saw in the charts was that even after becoming Brahmins, you don’t experience Brahmin life. You are not able to experience as much as you should. The main reason for this is that your vision is of always looking at others (par drishti), you are always thinking about others (par chintan) and you get engrossed in other people’s business (par panch). You speak of and think about external situations a lot more. Therefore, now become spinners of the discus of self-realisation. By paying attention to yourself (swa), paying attention to others (par) will end. Just as all of you together gave greetings for the New Year today, in the same way, you will automatically experience every day to be a new day, of having a new life, new thoughts and new sanskars. The pure enthusiasm for greetings for the Father and the Brahmin family will automatically continue to emerge in your minds at every moment. There will be a wave of congratulations and greetings, in everyone’s drishti. So, today, make the word “Congratulations”, imperishable. Do you understand? People keep their charts. The Father saw your charts. BapDada feels compassion for you children because, even though you can receive everything, what you take is incomplete. You have the new name of Brahma Kumars and Kumaris, and so why do you have something mixed in what you do? You are the children of the Bestower, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings. So what will you remember in the New Year? Everything you have to do is new, that is, the code of conduct of Brahmin life is all new. New means not to have any mixture. You have become very clever. You also begin to teach the Father. Some children say: Baba said that we have to do something new, and so we are doing this new. However, let it be new according to the codes of conduct of Brahmin life. BapDada has drawn the line of the codes of conduct for your Brahmin life or Brahmin birth. Do you understand how you have to celebrate the New Year? You were told that the eighteenth chapter is now beginning.

Before the Golden Jubilee, it is the Golden Jubilee of the World University. Don’t think that it is the Golden Jubilee of only those who have been here for 50 years. It is the Golden Jubilee of God’s task. All of those who are co-operative in the task of establishment, whether they are two years old or 50 years old in knowledge – even those of you who have been in knowledge for two years call yourselves Brahma Kumars, do you not? Or, do you have another name? So, this is the Golden Jubilee of the creation of Brahmins through Brahma and therefore all Brahma Kumars and Kumaris are included in this. Until you reach the Golden Jubilee, you have to enable goldenaged, satopradhan thoughts and sanskars to emerge in yourselves. You have to celebrate such a Golden Jubilee. You celebrate this just in name according to the customs and systems, but the real Golden Jubilee is the Jubilee in which you become goldenaged. “The task was successful,” means that the souls who were instruments for the task became embodiments of success. Even now there is still time. In these three months, celebrate a unique golden jubilee and show it on the stage of the world. People of the world give that honour, whereas here, you have to enable the stage of equality to be revealed. Whatever you do to honour them is just for the sake of it. You have to show the reality to the world: all of us are one and we belong to the One. We are those who have a constant and stable stage. We are those who remain lost in the love of One and reveal the name of One. So hoist this unique and lovely flag of your golden stage. Let the scenes of the golden world be clearly visible in your eyes and through your words and actions. Celebrate such a golden jubilee. Achcha.

To the elevated children who are worthy of such imperishable congratulations, to the children who give a vision of the new world through their every thought and action, to those who through their goldenaged stage ignite the lamp of pure hope in the souls of the world that the golden world is about to come, to the constantly sparkling stars, to the lamps of success, to the children who are the images that grant visions of the new life through their determination, BapDada’s love and remembrance and, along with imperishable greetings, imperishable blessings and namaste.

Avyakt BapDada meeting those who were on the peace march on foot and bicycle.

All of you did service through the peace march. You also experienced the practical fruit of all the service you did. You experienced the special happiness of that service, did you not? You had a peace march on foot, and everyone saw you in the form of the participants of that march. Now let them see you in the form of spiritual pilgrims. They saw you in the form of service, but now let them experience you to be alokik pilgrims who give the experience of an alokik pilgrimage. Just as you achieved success in this service by doing it with love, similarly, you now have to be successful on the spiritual pilgrimage. You put a lot of effort into it, you did a lot of service, you spoke knowledge very well and they experienced that your lives are very good. All of that happened. However, let them now engage themselves in making their lives like that. Let them experience that there is no other life apart from this life. So, have the aim of the spiritual pilgrimage and give them the experience of the spiritual pilgrimage. Do you understand what you have to do? As you walk and move, let them see that you are not ordinary, but that you are spiritual pilgrims. Therefore, what do you have to do? You yourselves have to remain on a pilgrimage and also give the experience of a pilgrimage to others. You gave them the experience of a peace march, now give the experience of the angelic stage. Let them experience that you are not the residents of this earth, that you are angels, that your feet do not stay on the ground. Day by day, make everyone fly with your flying stage. It is now the time to make everyone fly. It is not the time to make them walk. It takes time to walk, but it doesn’t take time to fly. Use your flying stage to make others fly. Do you understand? Continue to make everyone full and perfect with your drishti and awareness. Let them feel that they have received something with which they have become full, that they were empty but have become overflowing. When they experience attainment, they surrender themselves in a second. All of you had some attainment for that was why you renounced everything. You liked it, you experienced it and that was why you renounced everything else. You didn’t renounce it just like that. Therefore, now give others the experience of attainment. Do you understand? All of you are good. Whatever days you spent doing service, you yourselves and others too became elevated. You had good zeal and enthusiasm. The result was good, was it not? If you are constantly on the spiritual pilgrimage, you will constantly continue to receive success. Don’t think that because you have completed the peace march, service is over. In that case, you would become the same as you were before. No; Brahmins cannot stay on the field of service without constantly doing service. It is just that your part of service has changed. You have to do service till the end. You are such servers, are you not? Or, are you servers for one month or two months? You are constant servers, so let that zeal and enthusiasm remain all the time. Achcha. Whatever part of service you receive in the drama, it is filled with speciality. You experienced receiving help through your courage. Achcha. You had the elevated thought to reveal the Father through yourself, because when you reveal the Father, this old world will end and your kingdom will come. To reveal the Father means to bring about your kingdom. You constantly have enthusiasm for bringing about your own kingdom, do you not? Just as you had zeal and enthusiasm for the special programme, so too, let there always be zeal and enthusiasm for this thought. Do you understand?

BapDada meeting group:

You have heard a great deal. You now have to merge in yourself all the things you have heard, because the more you merge in yourself, the more you will become powerful like the Father. You are masters, are you not? So, just as the Father is the Almighty Authority, in the same way, you are also master almighty authorities, that is, you are those who merge all powers in you. You are those who become equal to the Father. Let there be no difference visible between the Father and you children on the basis of your lives. Just as you saw Father Brahma’s life, so, let Father Brahma and the children also be visible as the same. In the corporeal form, Father Brahma became the instrument to demonstrate actions to you in a practical way. So, become equal too, that is, become master almighty authorities. So, do you have all the powers? You have imbibed them, but only to a percentage, not as much as you need to. You are not full. You have to become full, do you not? So, increase the percentage. A number is received on the basis of your using the powers at a time of need. What would you say if the powers are not used at a time of need? It would be like having them but not having them, because they were not used at the time of need. So, check that whatever power you need, according to the time, whether you are able to use that power. You have to show the world the practical form of being a master almighty authority, equal to the Father. Only then will the world accept that the Almighty Authority has been revealed. This is your aim, is it not? We shall now see who takes this number until we reach the golden jubilee. Achcha.

Blessing: May you be truly merciful and make plans for the safety of every soul by having feelings for world benefit.
At present, some souls become instruments to harm themselves. Be merciful towards them and make some plans. When you see the parts of some souls, do not become disturbed but think of a means for their safety. Do not think that this happens all the time or that the tree has to shake; no. Finish the obstacles that have come. According to your titles of a world benefactor and a destroyer of obstacles, be merciful in your thoughts, words and deeds and co-operate in changing the atmosphere.
Slogan: Only those who keep guard, paying attention to their thoughts are able to be karma yogis.

 

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

If you have any type of heaviness or burden, do spiritual exercise. Be a karma yogi one minute, that is, be one who has adopted a corporeal form and play your part in the corporeal world. The next minute, be a subtle angel and experience being a subtle form, a resident of the subtle region, the next minute be incorporeal and experience being a resident of the incorporeal world. By doing this exercise you will become light and heaviness will finish.

TODAY MURLI 26 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 January 2019 :- Click Here

26/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your hearing is now taking place. The Father takes you away from sorrow and takes you into happiness. It is now the stage of retirement of all of you and you have to return home.
Question: Why does each of you children repeatedly receive orders to remain yogyukt and to follow shrimat?
Answer: Because the scenes of the final destruction are now to come in front of you. Millions of people will die; there will be natural calamities. For your stage to remain constant at the time of seeing all those scenes, for you to experience happiness for the hunter and death for the prey, you need to remain yogyukt. Only yogi children who follow shrimat will remain in pleasure. It will remain in their intellects that they are to shed their old bodies and go back to their sweet home.

Om shanti. The spiritual Father sits here and has a heart-to-heart conversation and explains to you spirits because you spirits have been remembering Him a great deal on the path of devotion. All are lovers of the one Beloved. An image of Shiv Baba, the Beloved, has been created. They sit and worship that. They don’t even know what they want from Him. All worship Him. Even Shankaracharya worshipped Him. Everyone thinks that he was great. Although he was the founder of a religion, he too had to take rebirth and come down. Everyone has now reached their last birth. Baba says: It is now the stage of retirement of all of you, young and old. I take all of you back home. You call out to Me to come into the impure world. They have so much regard for Him. “Come into the impure world and the foreign kingdom.” They must definitely be unhappy; that is why they are calling Him. It is remembered that He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Therefore, He surely has to come into the dirty old world, in an old body; and, that too, in a tamopradhan body. In the satopradhan world, no one even remembers Me. According to the drama , I make everyone happy. You have to use your intellect for everything. You understand that there will definitely be the original, eternal, deity religion in the golden age. In other spiritual gatherings they simply continue to study the scriptures and come down. Those who fall into the bog become unhappy. This is the world of sorrow. That is the land of happiness. The Father explains everything and makes it so easy for you because the poor innocent mothers don’t know anything. No one knows whether they have to return home or continue to take rebirth all the time. There are now those of all religions. At first there was heaven and so there was just the one religion. You have the whole cycle in your intellects. These things cannot stay in the intellect of anyone else. They say that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. That is called extreme darkness. Knowledge is extreme light. Now, you children have enlightenment in your intellect. When you go to any temple, you would say that you are going to Shiv Baba. We are becoming this Lakshmi and Narayan. These things do not take place in other spiritual gatherings. All of those things belong to the path of devotion. You now know the Creator and the beginning, middle and end of creation. Rishis and munis used to say that they did not know. You too did not know this previously. At this time, there is devotion throughout the whole world. This is the old world and there are so many human beings. In the golden-aged, new world, there was just the one undivided religion, and then there are the divided religions. There is conflict among the many religions; there is conflict between every one. According to the drama, their polic ies are like that. If they separate anyone, there is war. A partition is made. Because of not knowing the Father, people have become those with stone intellects. Now the Father explains: The deity religion has disappeared. Not a single person knows that it was their kingdom. You now understand that you are becoming deities. Shiv Baba is our obedient Servant. When a prominent person signs his letters, he always writes: obedient servant. The Father also says: I am an obedient Servant. Dada too says: I am an obedient servant. I will come again at the most auspicious confluence age of every cycle after 5000 years. I come and serve you children. You call Me the Resident of the faraway land. No one knows the meaning of this. They study so many scriptures etc., but they don’t understand the meaning of them. The Father comes and tells you the essence of all the Vedas and scriptures. You children know that it is the kingdom of Ravan at this time. People continue to become impure. This drama is also created like that. He removes you children from the extreme depths of hell and takes you to heaven. That is called the Garden of Allah. This is a forest of thorns whereas the golden age is a garden of flowers. You will remain constantly happy there; you become ever healthy and ever wealthy. For half the cycle, there is happiness and for the other half cycle there is sorrow. The cycle continues to turn; there is no end to it. The greatest Father of all comes and takes everyone to the land of peace and the land of happiness. When you go to the land of happiness, all the rest remain in the land of peace. Half the cycle is happiness and half the cycle is sorrow. In that too, there is happiness for the greater part. If it were half and half, what taste would there be? On the path of devotion, too, you were very wealthy. You now remember how wealthy you were. When those who are very wealthy go bankrupt, they remember what they had and how much wealth they had. The Father explains how wealthy Bharat was; it was P aradise. Look how poor it is now! It has now become completely poverty-stricken. There is mercy for the poor; they are now begging. Those who were solvent have now become insolvent. This too is the play. All the rest of the religions that come are by-plots. The number of people of so many religions continues to grow. It is only the people of Bharat who take 84 births. A child calculated everything about other religions and sent it to Baba. However, there isn’t any benefit by going into that too much. That too is a waste of time. If you were to stay in remembrance of the Father for that length of time, there would be an income earned. Our main thing is to make full effort and become the masters of the world. The Father says: You were satopradhan and you have now become tamopradhan. You have taken 84 births and you now have to return home. You have to receive the inheritance from the Father. You have been remembering the Father for half the cycle. The Father has now come and so your hearing now takes place. The Father is once again taking you to the land of happiness. It is as though there is the story of the rise and fall of Bharat. This is now the impure world. All are now old relationships and you now have to go into new relationships. At this time, all the actors are present. There is no difference in this. Souls are imperishable. There are so many souls; they are never destroyed. First of all, all the millions of souls have to return home. All the bodies will be destroyed and this is why people perform Holika. You know that we were worthy of worship and that we then became worshippers and are now becoming worthy of worship. There, there won’t be any knowledge or any scriptures etc. Everything will have been destroyed. Those who are yogyukt and follow shrimat will witness how everything is destroyed in the earthquakes. It is also printed in the newspapers how villages are destroyed. Bombay wasn’t so big previously. They drained the ocean and that will become the ocean again. None of those buildings etc. will remain. In the golden age, there will be palaces by the sweet waters; they won’t exist by salty water. So, none of this will remain. With just one tidal wave of the ocean, everything will be destroyed. There will be many calamities. Millions of people will die. Where will grain come from? Those people also understand that there will be calamities. People will be dying. Only those who are yogyukt will remain in pleasure. It will be happiness for the hunter and death for the prey. When there is snowfall, so many people die. There will be many natural calamities. All of this will be destroyed. Those are called natural calamities; they cannot be called Godly calamities. How can you blame God for those? It isn’t that Shankar opened his eye and destruction took place. All of those stories belong to the path of devotion. Missiles too are mentioned in the scriptures. You know that they will destroy everything with those missiles. You can see how there will be fire, gas, poisons used in those. The Father explains: At the end, everyone will die suddenly so that not a single child has to suffer. Therefore, they will die quickly through natural calamities. All of this is the predestined drama. Souls are imperishable. They are never destroyed and can never become smaller or larger. All the bodies will be destroyed here. All the souls will go to the sweet home. The Father comes every cycle at the confluence age. You too become the highest on high at this most auspicious confluence age. In fact, only Shiv Baba can be called Shri Shri and the deities called Shri. Nowadays, they continue to call everyone Shri. They say: Shrimati So-and-so and Shri So-and-so. It is only the one Father who gives you shrimat. Is it shrimat to indulge in vice? This is the corrupt world. The Father now says to you sweetest children: Remember Me and your alloy will be removed. While living at home with your families, live as pure as a lotus. You souls now have the knowledge of the beginning, middle and end of the cycle, but those ornaments cannot be given to you. Today, you understand yourselves to be spinners of the discus of self-realisation whereas, tomorrow, Maya would slap you, and all the knowledge would fly away. This is why a rosary of you Brahmins cannot be created. Maya slaps you and makes many of you fall and so how can a rosary be created? The omens continue to change. The rosary of Rudra is fine. There is also the rosary of Vishnu, but there cannot be a rosary of Brahmins. You children are given directions: Renounce your bodies and all your bodily religions and constantly remember Me alone. The Father is incorporeal. He doesn’t have a body of His own. He has to come into this one in his age of retirement when he is 60 years old. Gurus are only adopted in one’s stage of retirement. I am the Satguru, but I am incognito. Those people are gurus of devotion whereas I am of the path of knowledge. Look how Prajapita Brahma has so many children. Your intellects have left the limited and gone into the unlimited. People go into liberation and then go into liberation-in-life. You go first and others go later. Each one of you has to experience happiness first and then sorrow. This is the world drama and this is why it is said: Oh God! This is Your divine game. Your intellects continue to go around from the top to the bottom. You are lighthouses who show the path. You are the children of the Father. The Father says: Remember Me and you will become satopradhan from tamopradhan. You can also explain in trains. The unlimited Father is the Creator of heaven. There was heaven in Bharat. The Father comes in Bharat. They celebrate the birthday of Shiva in Bharat, but no one knows when that was. They don’t have the time or the date because He doesn’t take birth through a womb. The Father says: Consider yourself to be a soul. You came here bodiless, you were pure and you now have to go back bodiless. Constantly continue to remember Me alone and your sins will be cut away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a lighthouse and show everyone the path. Remove your intellect from the limited and keep it in the unlimited. Become a spinner of the discus of self-realisation.
  2. You now have to return home. Therefore, make effort in your stage of retirement to become satopradhan. Don’t waste your time.
Blessing: May you be a knowledgeable soul who performs every act after careful consideration and thereby remains free from repentance.
It is said in the world: First think and then act. Those who do not think before acting, who do something and then think about it afterwards then have to repent. To think about something afterwards is a form of repentance whereas to think about it before hand is a quality of a knowledgeable soul. In the copper and iron ages, there have been many types of repentance, but now, at the confluence age, you have thoughts with careful consideration and then act so that there isn’t any type of repentance in your mind for even a second. Only then would you be called a knowledgeable soul.
Slogan: Those who are merciful and donate all virtues and powers are master bestowers.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Like Father Brahma, especially at amrit vela, practice stabilizing yourself in a powerful stage, that is, be the seed form the same as the Father. As the time is the elevated time, so your stage also has to be elevated. This is the time of special blessings. Use this time in an accurate way and it will impact your stage of remembrance through the whole day.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 January 2019

To Read Murli 25 January 2019 :- Click Here
26-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब तुम्हारी सुनवाई होती है, बाप तुम्हें दु:ख से निकाल सुख में ले जाते हैं, अभी तुम सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, वापस घर जाना है”
प्रश्नः- सदा योगयुक्त रहने तथा श्रीमत पर चलने की आज्ञा बार-बार हर बच्चे को क्यों मिलती है?
उत्तर:- क्योंकि अभी अन्तिम विनाश का दृश्य सामने है। करोड़ों मनुष्य मरेंगे, नैचुरल कैलेमिटीज होंगी। उस समय स्थिति एकरस रहे, सब दृश्य देखते भी मिरूआ मौत मलूका शिकार..ऐसा अनुभव हो, उसके लिए योगयुक्त बनना पड़े। श्रीमत पर चलने वाले योगी बच्चे ही मौज में रहेंगे। उनकी बुद्धि में रहेगा कि हम तो पुराना शरीर छोड़ अपने स्वीट होम में जायेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों से रूहरिहान करते हैं अथवा रूहों को समझाते हैं क्योंकि रूहों ने भक्ति मार्ग में बहुत याद किया है। सब आशिक हैं एक माशूक के। उस माशूक शिवबाबा का चित्र बना हुआ है। उनको बैठ पूजते हैं। उनसे क्या मांगने चाहते हैं, वह पता नहीं है। पूजते तो सब हैं, शंकराचार्य भी पूजा करते हैं। सब उनको बड़ा समझते हैं। भल धर्म स्थापक हैं, परन्तु वह भी पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरते हैं। अभी सब पिछाड़ी के जन्म में आकर पहुँचे हैं। बाबा कहते हैं तुम छोटे बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। मैं तुम सबको वापिस ले जाता हूँ। मुझे बुलाते ही हैं कि पतित दुनिया में आओ। कितना रिगॉर्ड रखते हैं। पतित दुनिया पराये राज्य में आओ। ज़रूर दु:खी होंगे तब तो बुलायेंगे। गाया जाता है दु:ख हर्ता सुख कर्ता तो ज़रूर छी-छी पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में आना पड़े। वह भी तमोप्रधान शरीर में। सतोप्रधान दुनिया में मुझे कोई याद भी नहीं करता। ड्रामा अनुसार सबको मैं सुखी बना लेता हूँ। बुद्धि से काम लेना है कि सतयुग में ज़रूर आदि सनातन देवी देवता धर्म होगा और सतसंगों में तो सिर्फ शास्त्र पढ़ते-पढ़ते नीचे उतरते जाते हैं। दलदल में पड़ने वाले दु:खी होते हैं। यह है ही दु:खधाम। वह है सुखधाम। बाप कितना सहज करके समझाते हैं क्योंकि बिचारी अबलायें कुछ भी नहीं जानती हैं। कोई को भी यह पता नहीं है कि फिर वापिस भी जाना है या सदैव पुनर्जन्म लेते ही रहना है। अभी तो सब धर्म वाले हैं। पहले-पहले स्वर्ग था तो एक ही धर्म था। सारा चक्र तुम्हारी बुद्धि में है। कोई और की बुद्धि में यह बातें रह न सके। वह तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष कह देते हैं। इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा। ज्ञान है घोर सोझरा। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में रोशनी है। तुम कोई मन्दिर आदि में जायेंगे तो तुम कहेंगे हम शिवबाबा के पास जाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण हम बनते हैं। यह बातें और सतसंगों में नहीं होती। वह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। अभी तुम रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। ऋषि मुनि आदि कहते थे हम नहीं जानते हैं। तुम भी पहले नहीं जानते थे। इस समय सारे विश्व में भक्ति है। यह पुरानी दुनिया है, कितने ढेर मनुष्य हैं। सतयुग नई दुनिया में तो एक ही अद्वेत धर्म था, फिर होता है द्वेत धर्म। अनेक धर्मों में तालियाँ बजती हैं। सबकी एक दो में खिट-खिट है। ड्रामा अनुसार उन्हों की पालिसी ही ऐसी है। किसको भी अलग करते हैं तो लड़ाई होती है, पार्टीशन होते हैं। मनुष्य बाप को न जानने के कारण पत्थरबुद्धि बन पड़े हैं। इस समय बाप समझाते हैं देवी देवता धर्म ही प्राय:लोप हो गया है। एक भी नहीं जिसको पता हो कि इन्हों का भी राज्य था। तुम अभी समझते हो हम देवता बन रहे हैं। शिवबाबा हमारा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट है। बड़े आदमी हमेशा चिट्ठी लिखते हैं तो नीचे लिखते हैं ओबीडियन्ट सर्वेन्ट। बाप भी कहते हैं हम ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हैं तो दादा भी कहते हैं हम ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हैं। हम फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद हर कल्प के पुरूषोत्तम संगमयुग में आता हूँ। बच्चों की आकर सेवा करता हूँ। मुझे कहते हैं दूर देश के रहने वाला..इनका भी अर्थ नहीं जानते। इतने शास्त्र आदि पढ़ते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। बाप आकर सब वेदों शास्त्रों का सार समझाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो कि इस समय रावण राज्य है। मनुष्य पतित बनते जाते हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। तुम बच्चों को दोज़क से निकाल बहिश्त में ले जाते हैं। उनको ही गॉर्डन आफ अल्लाह कहते हैं। कलियुग में है काँटों का जंगल, संगमयुग पर फूलों का बगीचा बन रहा है। फिर वहाँ सतयुग में तुम सदा सुखी रहते हो। एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बन जाते हो। आधाकल्प सुख फिर आधाकल्प दु:ख, यह चक्र फिरता ही रहता है। इनकी इन्ड होती नहीं है। सबसे बड़ा बाप आते हैं सबको शान्तिधाम सुखधाम में ले जाते हैं। तुम जब सुखधाम में जाते हो तो बाकी सब शान्तिधाम में रहते हैं। आधाकल्प है सुख का, आधाकल्प है दु:ख का। उनमें भी सुख जास्ती है। अगर आधा-आधा होता तो टेस्ट क्या आयेगी। भक्ति मार्ग में भी बहुत धनवान थे। अभी तुमको याद आता है कि हम कितने धनवान थे! बहुत धनवान जब देवाला मारते हैं तो याद आता है कि हमारे पास क्या-क्या था, कितना धन था। बाप समझाते हैं भारत साहूकार था। पैराडाइज़ था। अब देखो कितना गरीब है। गरीबों पर ही रहम पड़ता है। अब एकदम कंगाल बन पड़े हैं। भीख मांग रहे हैं। जो सालवेन्ट थे अब इनसालवेन्ट बन पड़े हैं। यह भी नाटक है, बाकी जो भी धर्म आते हैं वह बाईप्लाट हैं। कितने धर्म के मनुष्य वृद्धि को पाते रहते हैं। भारतवासियों के ही 84 जन्म हैं। एक बच्चे ने और धर्मों का हिसाब-किताब निकालकर भेजा था। परन्तु जास्ती इन बातों में जाने से कोई फायदा नहीं। यह भी वेस्ट आफ टाईम हुआ। इतना समय अगर बाप की याद में रहते तो कमाई होती। अपनी तो मुख्य बात है – हम पूरा पुरूषार्थ कर विश्व का मालिक बनें। बाप कहते हैं तुम ही सतोप्रधान थे, तुम ही तमोप्रधान बने हो। 84 जन्म भी तुमने लिये हैं, अब फिर वापिस चलना है। बाप से वर्सा लेना है। तुमने आधाकल्प बाप को याद किया, अब बाप आये हैं तुम्हारी सुनवाई होती है। बाप फिर से तुमको सुखधाम में ले जाते हैं। भारत के उत्थान और पतन की भी जैसे एक कहानी है। अब यह है पतित दुनिया। सम्बन्ध भी पुराना है। अब फिर से नये संबंध में चलना है। इस समय एक्टर्स सब हाज़िर हैं। इनमें कोई फ़र्क नहीं पड़ सकता है। आत्मा तो अविनाशी है। कितनी ढेर आत्मायें होगी। उनका कभी विनाश नहीं होता। इतनी करोड़ों आत्माओं को पहले तो वापिस जाना है। बाकी शरीर तो सबके खत्म हो जाते हैं इसलिए होलिका भी मनाते हैं।

तुम जानते हो हम सो पूज्य थे फिर पुजारी बनें, अब फिर पूज्य बनते हैं। वहाँ यह नॉलेज नहीं होगी, न यह शास्त्र आदि होंगे। सब खत्म हो जायेंगे। जो योगयुक्त होंगे, श्रीमत पर चलने वाले होंगे वह सब कुछ देखेंगे। कैसे अर्थक्वेक में सब खलास होता है। अखबारों में भी पड़ता है, कैसे गाँव के गाँव खत्म हो जाते हैं। बाम्बे पहले इतनी नहीं थी। समुद्र को सुखाया फिर समुद्र हो जायेगा। यह मकान आदि सब कुछ नहीं रहेगा। सतयुग में मीठे पानी पर महल होंगे। खारे पानी पर होते नहीं। तो यह रहेंगे नहीं। एक ही उछल समुद्र की आई तो सब खत्म हो जायेंगे। बहुत उपद्रव होंगे। करोड़ों मनुष्य मरेंगे। अनाज कहाँ से आयेगा। वो लोग भी समझते हैं आफतें आनी हैं। मनुष्य मरेंगे तो जो योगयुक्त होंगे वह उस समय मौज में रहेंगे। मिरूआ मौत मलूका शिकार। बर्फ की बरसात पड़ने से ढेर मनुष्य मर जाते हैं। बहुत नैचुरल कैलेमिटीज होगी। यह सब खत्म हो जायेंगे। इनको कहा जाता है नैचुरल कैलेमिटीज़, गॉडली कैलेमिटीज़ नहीं कहेंगे। गॉड को दोष कैसे देंगे। ऐसे भी नहीं शंकर ने ऑख खोली तो विनाश हो गया। यह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। मूसलों के लिए भी शास्त्रों में लिखा है। तुम जानते हो इन मिसाइल्स से कैसे विनाश करते हैं। कैसे आग, गैस ज़हर आदि सब उसमें पड़ते हैं। बाप समझाते हैं – पिछाड़ी में सब फट से मर जाएं कोई बच्चे आदि भी दु:खी न हों, इसलिए नैचुरल कैलेमिटीज़ से झट मरेंगे। यह सब बना बनाया ड्रामा है। आत्मा तो अविनाशी है, कभी विनाश नहीं होती, न छोटी बड़ी होती है। शरीर सब यहाँ खलास होंगे। बाकी आत्मायें सब स्वीट होम में चली जायेंगी। बाप कल्प-कल्प आते हैं संगमयुग पर, तुम भी इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही ऊंचे ते ऊंच बनते हो। वास्तव में श्री-श्री शिवबाबा को और श्री इन देवताओं को कहा जाता है। आजकल तो देखो सबको श्री-श्री कहते रहते हैं। श्रीमती, श्री फलाना। अब श्रीमत तो एक बाप ही देते हैं। विकार में जाना, क्या यह श्रीमत है। यह तो है ही भ्रष्टाचारी दुनिया।

अब मीठे-मीठे बच्चों को बाप कहते हैं मुझे याद करो तो खाद निकल जाए। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहो। स्व को अब विश्व के आदि-मध्य-अन्त के चक्र का ज्ञान हुआ है। परन्तु यह अलंकार तुमको नहीं दे सकते। आज तुम अपने को स्वदर्शन चक्रधारी समझते हो कल माया थप्पड़ लगा दे तो ज्ञान ही उड़ जाये इसलिए तुम ब्राह्मणों की माला भी नहीं बन सकती। माया थप्पड़ लगाए बहुतों को गिरा देती है, तो उनकी माला कैसे बनेगी। दशायें बदलती रहती हैं। रूद्र माला ठीक है। विष्णु की माला भी है। बाकी ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती। तुम बच्चों को डायरेक्शन देते हैं कि देह सहित देह के सब धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। बाप तो निराकार है। उनको अपना शरीर तो है नहीं। और आये भी हैं इनकी वानप्रस्थ अवस्था में। जब 60 वर्ष की आयु हुई। वानप्रस्थ अवस्था में ही गुरू किया जाता है। मैं तो हूँ सतगुरू, परन्तु गुप्त वेष में। वह हैं भक्ति के गुरू, मैं हूँ ज्ञान मार्ग का। प्रजापिता ब्रह्मा को देखो कितने ढेर बच्चे हैं। बुद्धि हद से निकल बेहद में चली गई है। मुक्ति में जाकर फिर जीवनमुक्ति में आते हैं। तुम पहले आते हो दूसरे पीछे आते हैं। हर एक को पहले सुख फिर दु:ख भोगना पड़ता है। यह वर्ल्ड ड्रामा है तब तो कहते हैं अहो प्रभू तेरी लीला..तुम्हारी बुद्धि ऊपर से नीचे तक चक्र लगाती रहती है। तुम हो लाइट हाउस, रास्ता बताने वाले। तुम बाप के बच्चे हो ना। फादर कहते हैं मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। ट्रेन में भी तुम समझा सकते हो – बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है, भारत में स्वर्ग था। बाप आते हैं भारत में। शिव जयन्ती भी भारत में मनाई जाती है। परन्तु कब होती है, यह कोई नहीं जानते। तिथि तारीख दोनों ही नहीं हैं क्योंकि गर्भ से जन्म नहीं लेते। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। तुम अशरीरी आये थे, पवित्र थे फिर अशरीरी होकर जायेंगे। मामेकम् याद करते रहो तो पाप कट जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) लाइट हाउस बन सबको रास्ता बताना है। बुद्धि हद से निकाल बेहद में रखनी है। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है।

2) अब वापस घर जाना है इसलिए इस वानप्रस्थ अवस्था में सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करना है। अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है।

वरदान:- सोच-समझकर हर कर्म करने वाले पश्चाताप से मुक्त ज्ञानी तू आत्मा भव
दुनिया में भी कहते हैं पहले सोचो फिर करो। जो सोचकर नहीं करते, करके फिर सोचते हैं तो पश्चाताप का रूप हो जाता है। पीछे सोचना, यह पश्चाताप का रूप है और पहले सोचना – यह ज्ञानी तू आत्मा का गुण है। द्वापर-कलियुग में तो अनेक प्रकार के पश्चाताप ही करते रहे लेकिन अब संगम पर ऐसा सोच समझकर संकल्प वा कर्म करो जो कभी मन में भी, एक सेकण्ड भी पश्चाताप न हो, तब कहेंगे ज्ञानी तू आत्मा।
स्लोगन:- रहमदिल बन सर्व गुणों और शक्तियों का दान देने वाले ही मास्टर दाता हैं।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान विशेष अमृतवेले पॉवरफुल स्टेज अर्थात् बाप समान बीजरूप स्थिति में स्थित रहने का अभ्यास करो। जैसा श्रेष्ठ समय है, वैसी श्रेष्ठ स्थिति होनी चाहिए। तो यह विशेष वरदान का समय है। इस समय को यथार्थ रीति यूज़ करो तो सारे दिन की याद की स्थिति पर उसका प्रभाव रहेगा।

Font Resize