daily murli 26 February

TODAY MURLI 26 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

26/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at the confluence age, you receive new and unique knowledge. You know that all of us souls are actors. No one’s part can be the same as another’s.
Question: What method have you spiritual warriors been given in order to conquer Maya?
Answer: O spiritual warriors, constantly continue to follow shrimat. Become soul conscious and remember the Father. Wake up every morning and practise staying in remembrance and you will gain victory over Maya. You will be saved from any wrong type of thinking. The sweet method of remembrance will make you into conquerors of Maya.
Song: What can storms do to those whose companion is God?

Om shanti. This song was composed by human beings. No one understands the meaning of it at all. Devotees sing songs of praise and devotional songs, but they don’t understand anything at all. They sing a lot of praise. You children don’t have to praise anyone. Children never praise their father. The Father knows that we are His children and the children know that He is our Baba. Now, this is an unlimited aspect. Nevertheless, everyone remembers the unlimited Father; even now, they continue to remember Him. They say to God: O Baba! His name is Shiv Baba. Just as we are souls, so Shiv Baba is also a soul. He is the Supreme Soul and He is called the Supreme; we are His children. He is also called the Supreme Soul. Where is His residence? In the supreme abode. All souls reside there. Souls are actors. You know that all actors in a play are numberwise; each one receives a salary according to his part. All the souls that reside there are actors. However, each one has received a numberwise part. The spiritual Father sits here and explains how spirits have their imperishable parts recorded in them. No two souls can have the same part; not everyone has the same strength. You know that the best parts are of those who come into the rosary of Rudra, of Shiv, first. Very good actors in a play are praised a great deal. People go just to see them. Here, this is an unlimited drama. The one Father is at the top of this unlimited drama. You could even say that He is the highest-on-high Actor, Creator and Director. All other actors and directors, etc. are limited. They have all received their small parts. It is souls that play parts. However, because of body consciousness, they say that such is the part of that person. The Father says: The whole part is in the soul. You have to become soul conscious. The Father has explained that everyone in the golden age is soul conscious. They don’t know the Father. Here, in the iron age, neither are they soul conscious nor do they know the Father. You are now becoming soul conscious and you also know the Father. You Brahmins are receiving unique knowledge. You know about souls and how all souls are actors. Everyone has received his own part; no two souls can have the same part. Each soul has the whole part recorded in him. In fact, it is a soul that takes on a part in a play. It is a soul that takes a good part. A soul says, “I am a governor”, or, “I am So-and-so”. However, they don’t become soul conscious. In the golden age, they understand that they are souls and that they have to shed their bodies and take others. No one there knows God. At this time you know everything. You Brahmins are more elevated than the shudras and the deities. Where do so many Brahmins who become this come from? Hundreds of thousands come to the exhibitions, and those who take this knowledge and understand it very well become subjects. Each king has many subjects. You are creating many subjects. Some understand this knowledge from the projectors and exhibitions and become very good. They study everything and also have yoga. They will now continue to emerge. Subjects will emerge, wealthy ones, kings and queens and the poor will all emerge. There are many princes and princesses; princes and princesses have to be created for the golden and silver ages. There won’t be just eight or 108 of them. All of them are now being created. You continue to do service. This too is nothing new. Your holding functions is nothing new. You have done this many times. At the confluence age, you only do this business. What else would you do? The Father comes to purify the impure. This is called the history and geography of the world. Everything is numberwise. Everyone says of someone who gives good lectures, that so-and-so gave a very good lecture. Then, when they hear someone else, they say that the first person used to explain very well. Then, if a third one is better than those two, they say, “This one is better than both.” You have to make effort to go ahead of others in each aspect. Those who are clever instantly raise their hands to give lectures. All of you are effort-makers. As you move forward you will become mail trains (express train). Mama was a special mail train. You can’t know about Baba because both of them are together. You are not able to tell which one is speaking. You must always consider it to be Shiv Baba who is explaining. Bap and Dada both know but He is the One who knows what is within each one. Externally, He says: This one is very clever. The father is pleased to hear the praise. When someone’s child studies well and claims a high status, his father understands that his son will glorify his name. One can understand when such-and-such a child is clever in this spiritual service. The main thing in a lecture is to explain the Father’s message. Baba gave you an example of someone who had five children, but when he was asked how many children he had, he replied that he had two children. The other person said to him: But you have five children. Then he replied: But, I only have two worthy children. It is the same here. There are many children. The Father says: This daughter, Dr. Nirmala, is very good. She explained to her physical father with a lot of love and made him open a centre for her. This is service of Bharat. You are making Bharat into heaven. Ravan has made this Bharat into hell. It wasn’t just one Sita in jail, but all of you are Sitas who are in Ravan’s jail. They have written many tall stories in the scriptures. This path of devotion is also in the drama. You know that whatever has passed from the golden age will repeat. You become worthy of worship and you become worshippers. The Father says: I have to come and change you from worshippers into those who are worthy of worship. You first become goldenaged and then ironaged. In the golden age, it is the kingdom of the sun-dynasty Lakshmi and Narayan. The kingdom of Rama is the moon dynasty. At this time, all of you are spiritual warriors. Those who go onto a battlefield are called warriors. You are spiritual warriors whereas others are physical warriors. Their fighting and battling is with physical power. In the beginning, they used to have hand-to-hand fighting; they would fight one another and one of them would gain victory. Now, they have created bombs, etc. You are warriors and they too are warriors. You gain victory over Maya by following shrimat. You are spiritual warriors. It is the spirits that do everything through the physical organs of their bodies. The Father comes and teaches spirits: Children, when you remember Me, Maya will not eat you up. Your sins will be absolved and you won’t have wrong thoughts. By remembering the Father, there will also be that happiness. This is why the Father tells you to practise this early in the morning: Baba, You are so sweet! It is the soul that says: “Baba!” The Father has given you the recognition: I am your Father. I have come to tell you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. This is the inverted human world tree. This is the human world of the variety of religions. This is called a variety play. The Father has explained that He is the Seed of this human tree. People remember Me. Some belong to one tree and others to another tree. They continue to emerge, numberwise. This drama is predestined. It is said that so-and-so was sent as the founder of that religion. However, no one is sent from there. All of this repeats according to the drama. Only that One establishes a religion and a kingdom together. No one in the world knows this. It is now the confluence age. The flames of destruction have to emerge. This is the sacrificial fire of the knowledge of Shiv Baba. They have given it the name Rudra. You Brahmins have been created through Prajapita Brahma. You are the highest; all the other generations emerge later. In fact, all are the children of Brahma. Brahma is called the great-great-grandfather. There is the genealogical tree. First comes highest Brahma and then the rest of the genealogical tree grows. People ask how God creates the world. The creation is there. When they become impure, they call out to Him. He comes and makes the unhappy world happy. This is why people call out: Baba, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness, come! They have kept the name Haridwar. Haridwar means “Gateway to God”. The Ganges flows there. They believe that by bathing in the Ganges they will be able to go through the Gateway to God, but where is the Gateway to God? They refer to Krishna in this. It is Shiv Baba who is God, the Gateway. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You first have to go home. You children now know your Father and your home. The throne of the Father is a little higher. In a rosary, there is the flower (tassel) and the dual-bead is beneath that. Then they speak of the rosary of Rudra. The rosary of Rudra then becomes the rosary of Vishnu. Those who become the garland around the neck of Vishnu then rule in the land of Vishnu. There is no rosary of Brahmins because it keeps breaking again and again. The Father explains: Everything is numberwise. Today, you are moving along fine whereas tomorrow, there would be storms and an eclipse and you get slack. The Father says: Some belong to Me, they are amazed by the knowledge they hear, they speak about it, they even go into trance and they become threaded in the rosary. Then, they completely run away and thereby become cremators. Therefore, how could a rosary be created? The Father explains that a rosary of Brahmins cannot be created. The rosary of devotees is separate from the rosary of Rudra. In the rosary of devotees, Meera is the main one of the females and Narad of the males. This is the rosary of Rudra. Only at the confluence age does the Father come to grant liberation and liberation-in-life. You children understand that you were the masters of heaven and that it is now hell. The Father says: Kick hell away and claim the sovereignty of heaven that Ravan snatched away from you. Only the Father comes and explains all of this to you. He knows all the scriptures and pilgrimages. He is the Seed, the Ocean of Knowledge, the Ocean of Peace. Souls say this. The Father explains that Lakshmi and Narayan were the masters of the golden age. What was there before they existed? It must definitely have been the end of the iron age, when there was the confluence age which then became heaven. The Father is called the Creator of Heaven; He is the One who establishes heaven. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven. From whom did they receive their inheritance? From the Father, the Creator of Heaven. This is the Father’s inheritance. You can ask anyone how Lakshmi and Narayan claimed the kingdom they had in the golden age and no one will be able to tell you. Even this Dada says: I didn’t know this. I used to worship them, but I didn’t know anything. The Father has now explained: You study Raja Yoga at the confluence age. Raja Yoga is mentioned in the Gita. Raja Yoga is not mentioned anywhere other than in the Gita. The Father says: I make you into the kings of kings. God came and gave you the knowledge to change from an ordinary human into Narayan. The main scripture of Bharat is the Gita. No one knows when the Gita was created. The Father says: I come at the confluence age of the cycle. Those who were given the kingdom lost that kingdom and became tamopradhan and unhappy. It is the kingdom of Ravan. It is the story of the whole of Bharat. Bharat is all-round (it exists all the time). All others come later. The Father says: I tell you the secrets of 84 births. Five thousand years ago you were deities. You don’t even know about your births. O people of Bharat, the Father comes at the end. If He were to come at the beginning, how could He give you the knowledge of the beginning, the middle and the end? If the world population hadn’t grown, how could He explain it? There is no need for knowledge there. It is only now, at the confluence age, that the Father gives you knowledge. He is the Knowledge-full One. He definitely has to come at the end to speak knowledge. What could He tell you at the beginning? These matters have to be understood. God speaks: I teach you Raja Yoga. This is the University of the Pandava Government. It is now the confluence age. They have sat and shown the armies of the Yadavas, Kauravas and Pandavas. The Father explains: The Yadavas and Kauravas have non-loving intellects at the time of destruction. They continue to insult one another. They have no love for the Father. They say that God is in the cats and dogs. The Pandavas, however, have loving intellects. The Companion of the Pandavas is God Himself. Pandavas means spiritual guides. Those are physical guides whereas you are spiritual guides. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be soul conscious and play a hero part in this unlimited play. Each actor has his own part. Therefore, don’t compare your part with that of anyone else.
  2. Wake up early in the morning and talk to yourself. Practise being separate from your physical organs. Baba, You are so sweet! You give us the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world.
Blessing: May you always remain distant from body consciousness and the bad odour of bodies and thereby become a resident of Indraprasth.
It is said that no human beings, only angels, can reside in Indraprasth. A human being means someone who doesn’t consider himself to be a soul, but a body. So, always continue to fly away from body consciousness, the old world of bodies and old relationships. Let there not be the slightest bad odour of being a human being. Be soul conscious and let your wings of knowledge and yoga be strong and you will then be called a resident of Indraprasth.
Slogan: Only those who use their bodies, minds and wealth in a worthwhile way and increase all their treasures are sensible.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

26-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – संगम पर तुम्हें नई और निराली नॉलेज मिलती है, तुम जानते हो हम सब आत्मायें एक्टर्स हैं, एक का पार्ट न मिले दूसरे से”
प्रश्नः- माया पर जीत पाने के लिए तुम रूहानी योद्धों को (क्षत्रियों को) कौन-सी युक्ति मिली हुई है?
उत्तर:- हे रूहानी क्षत्रिय, तुम सदा श्रीमत पर चलते रहो। आत्म-अभिमानी बन बाप को याद करो, रोज़ सवेरे-सवेरे उठ याद में रहने का अभ्यास डालो तो माया पर विजय प्राप्त कर लेंगे। उल्टे-सुल्टे संकल्पों से बच जायेंगे। याद की मीठी युक्ति मायाजीत बना देगी।
गीत:- जिसका साथी है भगवान…….

ओम् शान्ति। यह मनुष्यों के बनाये हुए गीत हैं। इनका अर्थ कोई कुछ भी नहीं जानते। गीत भजन आदि गाते हैं, महिमा करते हैं भक्त लोग परन्तु जानते कुछ नहीं। महिमा बहुत करते हैं। तुम बच्चों को कोई महिमा नहीं करनी है। बच्चे बाप की कभी महिमा नहीं करते। बाप जानते हैं यह हमारे बच्चे हैं। बच्चे जानते हैं यह हमारा बाबा है। अभी यह बेहद की बात है। फिर भी सब बेहद के बाप को याद करते हैं। अब तक भी याद करते रहते हैं। भगवान को कहते हैं – हे बाबा, इनका नाम शिवबाबा है। जैसे हम आत्मायें हैं वैसे शिवबाबा है। वह है परम आत्मा, जिसको सुप्रीम कहा जाता है, उनके हम बच्चे हैं। उनको सुप्रीम सोल कहा जाता है। उनका निवास स्थान कहाँ हैं? परमधाम में। सब सोल्स वहाँ रहती हैं। एक्टर्स ही सोल्स हैं। तुम जानते हो नाटक में एक्टर्स नम्बरवार होते हैं। हर एक के पार्ट अनुसार इतनी तनख्वाह (पगार) मिलती है। सब आत्मायें जो वहाँ रहती हैं, सब पार्ट-धारी हैं, परन्तु नम्बरवार सबको पार्ट मिला हुआ है। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं कि रूहों में कैसे अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। सब रूहों का पार्ट एक जैसा नहीं हो सकता। सबमें ताकत एक जैसी नहीं। तुम जानते हो कि सबसे अच्छा पार्ट उनका है जो पहले शिव की रूद्र माला में हैं। नाटक में जो बहुत अच्छे-अच्छे एक्टर्स होते हैं उनकी कितनी महिमा होती है। सिर्फ उनको देखने लिए भी लोग जाते हैं। तो यह बेहद का ड्रामा है। इस बेहद के ड्रामा में भी ऊंच एक बाप है। ऊंच ते ऊंच एक्टर, क्रियेटर, डायरेक्टर भी कहें, वह सब हैं हद के एक्टर्स, डायरेक्टर्स आदि। उनको अपना छोटा पार्ट मिला हुआ है। पार्ट आत्मा बजाती है परन्तु देह-अभिमान के कारण कह देते कि मनुष्य का ऐसा पार्ट है। बाप कहते पार्ट सारा आत्मा का है। आत्म-अभिमानी बनना पड़ता है। बाप ने समझाया है कि सतयुग में आत्म-अभिमानी होते हैं। बाप को नहीं जानते। यहाँ कलियुग में तो आत्म-अभिमानी भी नहीं और बाप को भी नहीं जानते। अभी तुम आत्म-अभिमानी बनते हो। बाप को भी जानते हो।

तुम ब्राह्मणों को निराली नॉलेज मिलती है। तुम आत्मा को जान गये हो कि हम सब आत्मायें एक्टर्स हैं। सबको पार्ट मिला हुआ है, जो एक न मिले दूसरे से। वह पार्ट सारा आत्मा में है। यूँ तो जो नाटक बनाते हैं वह भी पार्ट आत्मा ही धारण करती है। अच्छा पार्ट भी आत्मा ही लेती है। आत्मा ही कहती है मैं गवर्नर हूँ, फलाना हूँ। परन्तु आत्म-अभिमानी नहीं बनते। सतयुग में समझेंगे कि मैं आत्मा हूँ। एक शरीर छोड़ दूसरा लेना है। परमात्मा को वहाँ कोई नहीं जानते इस समय तुम सब कुछ जानते हो। शूद्रों और देवताओं से तुम ब्राह्मण उत्तम हो। इतने ढेर ब्राह्मण कहाँ से आयेंगे, जो बनेंगे। लाखों आते हैं प्रदर्शनी में। जिसने अच्छी तरह समझा, ज्ञान सुना वह प्रजा बन गये। एक-एक राजा की प्रजा बहुत होती है। तुम प्रजा बहुत बना रहे हो। प्रदर्शनी, प्रोजेक्टर से कोई समझकर अच्छे भी बन जायेंगे। सीखेंगे, योग लगायेंगे। अभी वह निकलते जायेंगे। प्रजा भी निकलेगी फिर साहूकार, राजा-रानी, गरीब आदि सब निकलेंगे। प्रिन्स-प्रिन्सेज बहुत होते हैं। सतयुग से त्रेता तक प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने हैं। सिर्फ 8 वा 108 तो नहीं होंगे। लेकिन अभी सब बन रहे हैं। तुम सर्विस करते रहते हो। यह भी नथिंगन्यु। तुमने कोई फंक्शन किया, यह भी नई बात नहीं। अनेक बार किया है फिर संगम पर यही धन्धा करेंगे और क्या करेंगे! बाप आयेंगे पतितों को पावन बनाने। इसको कहा जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी। नम्बरवार तो हर बात में होता ही है। तुम्हारे में जो अच्छा भाषण करते हैं तो सब कहेंगे कि इसने बहुत अच्छा भाषण किया। दूसरे का सुनेंगे तो भी कहेंगे कि पहले वाले अच्छा समझाते थे। तीसरे फिर उनसे तीखे होंगे तो कहेंगे यह उनसे भी तीखे हैं। हर बात में पुरुषार्थ करना होता है कि हम उनसे ऊपर जायें। होशियार जो होते हैं वह झट हाथ उठायेंगे, भाषण करने लिए। तुम सब पुरुषार्थी हो, आगे चल मेल ट्रेन बन जायेंगे। जैसे मम्मा स्पेशल मेल ट्रेन थी। बाबा का तो पता नहीं पड़ेगा क्योंकि दोनों इकट्ठे हैं। तुम समझ नहीं सकेंगे कि कौन कहते हैं। तुम सदैव समझो कि शिवबाबा समझाते हैं। बाप और दादा दोनों जानते हैं परन्तु वह अन्तर्यामी है। बाहर से कहते हैं यह तो बहुत होशियार है। बाप भी महिमा सुन खुश होते हैं। लौकिक बाप का भी कोई बच्चा अच्छी तरह पढ़कर ऊंच पद पाता है तो बाप समझते हैं कि यह बच्चा अच्छा नाम निकालेगा। यह भी समझते हैं कि फलाना बच्चा इस रूहानी सर्विस में होशियार है। मुख्य तो भाषण है, किसको बाप का सन्देश देना, समझाना। बाबा ने मिसाल भी बताया था कि किसको 5 बच्चे थे तो कोई ने पूछा कि तुमको कितने बच्चे हैं? तो बोला कि दो बच्चे हैं। कहा कि तुमको तो 5 बच्चे हैं! कहा सपूत दो हैं। यहाँ भी ऐसे है। बच्चे तो बहुत हैं। बाप कहेंगे कि यह डॉक्टर निर्मला बच्ची बहुत अच्छी है। बहुत प्रेम से लौकिक बाप को समझाए सेन्टर खुलवा दिया है। यह भारत की सर्विस है। तुम भारत को स्वर्ग बनाते हो। इस भारत को नर्क रावण ने बनाया। एक सीता कैद में नहीं थी लेकिन तुम सीतायें रावण की कैद में थी। बाकी शास्त्रों में सब दन्त कथायें हैं। यह भक्ति मार्ग भी ड्रामा में है। तुम जानते हो सतयुग से लेकर जो पास हुआ वह रिपीट होगा। आपेही पूज्य आपेही पुजारी बनते हैं। बाप कहते हैं मुझे आकर पुजारी से पूज्य बनाना है। पहले गोल्डन एजेड फिर आइरन एजेड बनना है। सतयुग में सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। रामराज्य तो चन्द्रवंशी था।

इस समय तुम सब रूहानी क्षत्रिय (योद्धे) हो। लड़ाई के मैदान में आने वाले को क्षत्रिय कहा जाता है। तुम हो रूहानी क्षत्रिय। बाकी वह हैं जिस्मानी क्षत्रिय। उनको कहा जाता है बाहुबल से लड़ना-झगड़ना। शुरू में मल्ल युद्ध होती थी बांहों आदि से। आपस में लड़ते थे फिर विजय को पाते थे। अभी तो देखो बॉम्ब्स आदि बने हुए हैं। तुम भी क्षत्रिय हो, वह भी क्षत्रिय हैं। तुम माया पर जीत पाते हो, श्रीमत पर चल। तुम हो रूहानी क्षत्रिय। रूहें ही सब कुछ कर रही हैं इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा। रूह को बाप आकर सिखलाते हैं – बच्चे, मुझे याद करने से फिर माया खायेगी नहीं। तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और तुमको उल्टा-सुल्टा संकल्प नहीं आयेगा। बाप को याद करने से खुशी भी रहेगी इसलिए बाप समझाते हैं कि सवेरे उठकर अभ्यास करो। बाबा आप कितने मीठे हो। आत्मा कहती है – बाबा। बाप ने पहचान दी है – मैं तुम्हारा बाप हूँ, तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज सुनाने आया हूँ। यह मनुष्य सृष्टि का उल्टा झाड़ है। यह वैराइटी धर्मों की मनुष्य सृष्टि है, इसको कहा जाता है विराट लीला। बाप ने समझाया है कि इस मनुष्य झाड़ का मैं बीज रूप हूँ। मुझे याद करते हैं। कोई किस झाड़ का है, कोई किस झाड़ का है। फिर नम्बरवार निकलते हैं। यह ड्रामा बना हुआ है। कहावत है कि फलाने ने धर्म स्थापक पैगम्बर को भेजा। परन्तु वहाँ से भेजते नहीं हैं। यह ड्रामा अनुसार रिपीट होता है। यह एक ही है जो धर्म और राजधानी स्थापन कर रहे हैं। यह दुनिया में कोई भी नहीं जानते। अभी है संगम। विनाश की ज्वाला प्रज्जवलित होनी है। यह है शिवबाबा का ज्ञान यज्ञ। उन्हों ने रूद्र नाम रख दिया है। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मण पैदा हुए हो। तुम ऊंच ठहरे ना। पीछे और बिरादरियाँ निकलती हैं। वास्तव में तो सब ब्रह्मा के बच्चे हो। ब्रह्मा को कहा जाता है ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर। सिजरा है, पहले-पहले ब्रह्मा ऊंच फिर सिजरा निकलता है। कहते हैं भगवान सृष्टि कैसे रचते हैं। रचना तो है। जब वह पतित होते हैं तब उनको बुलाते हैं। वही आकर दु:खी सृष्टि को सुखी बनाते हैं इसलिए बुलाते हैं बाबा दु:ख हर्ता सुख कर्ता आओ। नाम रखा है हरिद्वार। हरिद्वार अर्थात् हरी का द्वार। वहाँ गंगा बहती है। समझते हैं हम गंगा में स्नान करने से हरी के द्वार चले जायेंगे। परन्तु हरी का द्वार है कहाँ? वह फिर कृष्ण को कह देते हैं। हरी का द्वार तो शिवबाबा है। दु:ख हर्ता सुख कर्ता। पहले तुमको जाना है अपने घर। तुम बच्चों को अपने बाप का और घर का अभी मालूम पड़ा है। बाप की गद्दी थोड़ी ऊंची है। फूल है ऊपर में फिर युगल दाना उससे नीचे। फिर रूद्र माला कहते हैं। रूद्र माला सो विष्णु की माला। विष्णु के गले का हार वही फिर विष्णुपुरी में राज्य करते हैं। ब्राह्मणों की माला नहीं है क्योंकि घड़ी-घड़ी टूट पड़ते हैं। बाप समझाते हैं कि नम्बरवार तो हैं ना। आज ठीक हैं कल तूफान आ जाते हैं, गृहचारी आने से ठण्डे हो जाते हैं। बाप कहते हैं कि मेरा बनन्ती, आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, ध्यान में जावन्ती, माला में पिरवन्ती… फिर एकदम भागन्ती, चण्डाल बनन्ती। फिर माला कैसे बनें? तो बाप समझाते हैं कि ब्राह्मणों की माला नहीं बनती। भक्त माला अलग है, रूद्र माला अलग है। भक्त माला में मुख्य हैं फीमेल्स में मीरा और मेल्स में नारद। यह है रूद्र माला। संगम पर बाप ही आकर मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। बच्चे समझते हैं कि हम ही स्वर्ग के मालिक थे। अभी नर्क में हैं। बाप कहते हैं कि नर्क को लात मारो, स्वर्ग की बादशाही लो, जो तुम्हारी रावण ने छीन ली है। यह तो बाप ही आकर बताते हैं। वह इन सब शास्त्रों, तीर्थों आदि को जानते हैं। बीजरूप है ना। ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर….. यह आत्मा कहती है।

बाप समझाते हैं कि यह लक्ष्मी-नारायण सतयुग के मालिक थे। उनके आगे क्या था? जरूर कलियुग का अन्त होगा तो संगमयुग हुआ होगा फिर अब स्वर्ग बनता है। बाप को स्वर्ग का रचयिता कहा जाता है, स्वर्ग स्थापन करने वाला। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे। इन्हों को वर्सा कहाँ से मिला? स्वर्ग के रचता बाप से। बाप का ही यह वर्सा है। तुम कोई से भी पूछ सकते हो कि इन लक्ष्मी-नारायण को सतयुग की राजधानी थी। कैसे ली? कोई बता नहीं सकेंगे। यह दादा भी कहता है कि मैं नहीं जानता था। पूजा करता था परन्तु जानता नहीं था। अब बाप ने समझाया है – यह संगम पर राजयोग सीखते हैं। गीता में ही राजयोग का वर्णन है। सिवाए गीता के और कोई भी शास्त्र में राजयोग की बात नहीं है। बाप कहते हैं कि मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। भगवान ने ही आकर नर से नारायण बनने की नॉलेज दी है। भारत का मुख्य शास्त्र है गीता। गीता कब रची गई, यह जानते नहीं। बाप कहते हैं कल्प-कल्प संगम पर आता हूँ। जिनको राज्य दिया था वो राज्य गँवाकर फिर तमोप्रधान दु:खी बन पड़े हैं। रावण का राज्य है। सारे भारत की ही कहानी है। भारत है आलराउण्ड, और तो सब बाद में आते हैं। बाप कहते हैं कि तुमको 84 जन्मों का राज़ बताता हूँ। 5 हज़ार वर्ष पहले तुम देवी-देवता थे, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, हे भारतवासियों! बाप आते हैं अन्त में। आदि में आये तो आदि-अन्त का नॉलेज कैसे सुनाये! सृष्टि की वृद्धि ही नहीं हुई है तो समझाये कैसे? वहाँ तो नॉलेज की दरकार ही नहीं। बाप अभी संगम पर ही नॉलेज देते हैं। नॉलेजफुल है ना। जरूर नॉलेज सुनाने अन्त में आना पड़े। आदि में तुमको क्या सुनायेंगे! यह समझने की बातें हैं। भगवानुवाच कि मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। यह युनिवर्सिटी है पाण्डव गवर्मेन्ट की। अभी है संगम – यादव, कौरव और पाण्डव, उन्होंने बैठ सेनायें दिखाई हैं। बाप समझाते हैं यादव-कौरव विनाश काले विपरीत बुद्धि। एक-दो को गाली देते रहते हैं। बाप से प्रीत नहीं है। कह देते कि कुत्ते-बिल्ली सबमें परमात्मा है। बाकी पाण्डवों की प्रीत बुद्धि थी। पाण्डवों का साथी स्वयं परमात्मा था। पाण्डव माना रूहानी पण्डे। वह हैं जिस्मानी पण्डे, तुम हो रूहानी पण्डे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्म-अभिमानी बन इस बेहद नाटक में हीरो पार्ट बजाना है। हर एक एक्टर का पार्ट अपना-अपना है इसलिए किसी के पार्ट से रीस नहीं करनी है।

2) सवेरे-सवेरे उठकर अपने आपसे बातें करनी है, अभ्यास करना है – मैं इन शरीर की कर्मेन्द्रियों से अलग हूँ, बाबा आप कितने मीठे हो, आप हमें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हो।

वरदान:- सदा देह-अभिमान व देह की बदबू से दूर रहने वाले इन्द्रप्रस्थ निवासी भव
कहते हैं इन्द्रप्रस्थ में सिवाए परियों के और कोई भी मनुष्य निवास नहीं कर सकते। मनुष्य अर्थात् जो अपने को आत्मा न समझ देह समझते हैं। तो देह-अभिमान और देह की पुरानी दुनिया, पुराने संबंधों से सदा ऊपर उड़ते रहते। जरा भी मनुष्य-पन की बदबू न हो। देही-अभिमानी स्थिति में रहो, ज्ञान और योग के पंख मजबूत हों तब कहेंगे इन्द्रप्रस्थ निवासी।
स्लोगन:- अपने तन, मन, धन को सफल करने वा सर्व खजानों को बढ़ाने वाले ही समझदार हैं।

TODAY MURLI 26 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 February 2020

26/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have received the shrimat (elevated instructions) to become soul conscious and to remember the Father. Under no circumstances should you argue with anyone.
Question: What method has been created so that your intellects become clean and can be connected in yoga to the Father?
Answer: A bhatthi of seven days. When new ones come, sit them in a bhatthi for seven days. The rubbish will be cleared from their intellects and they’ll be able to recognise the incognito Father, the incognito study and the incognito inheritance. If they were simply to sit down as soon as they came, they would become confused and understand nothing.
Song: Awaken, o brides, awaken! The new day is about to dawn.

Om shanti. In order to make you children knowledgeable, such songs have to be played and their meaning explained. You’ll then be able to speak out in front of others. You will find out how much knowledge of the beginning, the middle and the end is in your intellects. It is as though the secrets of everything from up above, from the incorporeal world, the subtle region and the beginning, middle and end of the corporeal world are shining in the intellects of you children. The Father has this knowledge which He tells you. This is completely new knowledge. Although names are mentioned in the scriptures etc., they would get stuck on your mentioning those names and begin to debate about them. Here, He explains in a completely simple way: God speaks: Remember Me. Only I am the Purifier. Krishna, Brahma, Vishnu, Shankar, etc. would not be called the Purifier. You don’t call the residents of the subtle region purifiers. How then could human beings of the physical world be purifiers? This knowledge is surely in your intellects. It isn’t good to argue too much about the scriptures. Too much discussion takes place. They even start beating each other with sticks! These things are explained to you very easily. You are not to go too much into the things of the scriptures. The main aspect is definitely that of becoming soul conscious, to consider yourselves to be souls and remember the Father. This shrimat is the main one. The rest is detail. The seed is so small, whereas the rest is the expansion of the tree. Just as the whole knowledge of a tree is merged in its seed, in the same way, all of this knowledge is also merged in the Seed. The Seed and the tree are in your intellects. No one else can understand this in the way that you do. They have written the lifespan of the tree to be long. The Father sits here and explains the secret of the Seed and the tree and the drama cycle. You are spinners of the discus of self-realisation. If new ones come and Baba were to sing the praise of the children as being spinners of the discus of self-realisation, none of them would be able to understand. They wouldn’t even consider themselves to be children. This Father is incognito, the knowledge is also incognito and the inheritance too is incognito. Anyone new who hears these things would become confused. This is why they are made to sit in a bhatthi for seven days. The recitations of the Bhagawad, the Ramayana etc. that they hold for seven days are in fact a memorial of this time when they are kept in a bhatthi for seven days for the rubbish in their intellects to be removed and so that their intellects be connected in yoga to the Father. Here, all are diseased. These diseases don’t exist in the golden age. This is a disease of half a cycle. The disease of the five vices is huge. You remain soul conscious there. You souls know that each of you leaves a body and adopts another. You have a vision beforehand. Untimely death never occurs there. You are made victorious over death. They say: Death, death, and the great death. There is also the Mahakal Temple. The Sikh people have the immortal throne. In fact, the immortal throne is the centre of the forehead where each soul is seated. All souls are seated on these immortal thrones. The Father sits here and explains this. The Father doesn’t have His own throne. He comes and takes this one’s throne. He sits on this throne and makes you children worthy of sitting on the peacock throne. You know what that peacock throne on which Lakshmi and Narayan will be seated would be like. The peacock throne has been remembered, has it not? You should churn this: Why is He called God, the Innocent Lord? On saying “The Innocent Lord” the intellect goes up above. Sages, holy men etc. also point with their finger in this way (upwards) for you to remember Him. However, no one can know anything accurately. The Father, the Purifier, now comes personally in front of you and says: Remember Me and your sins will be absolved. This is a guarantee. This is also written in the Gita but if you pull one example out from the Gita, they would pull out ten. This is why there is no need. Those who have studied the scriptures etc. think that they can challenge others. Those of you children who don’t know these scriptures etc. at all shouldn’t ever even mention their names. Simply say, “God says: Remember Me, your Father.” Only He is called the Purifier. They also sing the song: “Purifier, Rama of Sita”… Sannyasis also continue to chant here and there. There are many opinions like these, are there not? This song too is so beautiful! According to the dramaplan, such songs are composed every cycle. It is as though they are composed for you children alone. There are such good songs. For example: “Show the path to the blind, Prabhu!” (The One who resides beyond this earth)! It is not that Krishna is called Prabhu. Only the incorporeal One would be called Prabhu or Ishwar (one who fulfils all desires). Here, you say Baba is the Supreme Father, the Supreme Soul. He too is a soul, is He not? They have gone on to the path of devotion too much. Here, things are completely simple – Alpha and beta. Alpha is Allah and beta is the sovereignty. It is such a simple thing! Remember the Father and you will become the masters of heaven. Lakshmi and Narayan were definitely the masters of heaven; they were completely viceless. So, only by remembering the Father will you definitely become complete like them. To the extent that you have remembrance and do service, accordingly you will receive a high status. This is also understood. Don’t students in a school realize it when they are studying very little? Those who don’t pay full attention continue to sit at the back; so they would definitely fail. In order to refresh yourselves, you should listen to the good songs of knowledge that have been composed. Keep such songs in your homes. You could even explain them to others. Look how the shadow of Maya falls again. It is not mentioned in the scriptures that the duration of the cycle is 5000 years. The day of Brahma and the night of Brahma are half and half. Someone had these songs composed. The Father is the Intellect of the Wise, and so it entered the intellects of those who sat and composed them. So many who came to you went into trance on hearing these songs etc. The day will come when those who sing songs of this knowledge will also come to you. They will sing such songs in praise of the Father that your hearts will be touched. Singers of that kind will come. It also depends on the tune. The art of singing is also very famous. At the moment, there is no one like that. There is just one song composed: So sweet, so lovely, God Shiva, the Innocent One, is! The Father is definitely very sweet and very lovely too. That is why everyone remembers Him. It is not that the deities remember Him. In the pictures, they have shown Rama in front of Shiva; Rama is worshipping! That too is wrong. It’s not that the deities remember anyone. It is human beings who have remembrance. You are now human beings and you too will then become deities. There is the difference of day and night between deities and human beings. The same deities then become human beings. No one knows at all how the cycle continues to turn. You have now found out that we truly do become deities. We are now Brahmins. In the new world, we will be called deities. You are now filled with wonder! This Brahma, who was previously a worshipper in this birth and sang praise of Shri Narayan, had a lot of love for Narayan. Now, it seems a wonder that he is becoming that again. So, the mercury of happiness should rise so much. You are the unknown warriors. You are non-violent. Truly, you are doubly non-violent. Neither do you have the sword of lust, nor do you engage in war. Lust is separate; anger is separate. So, then, you are doubly non-violent, the non-violent army. Because of the word “army”, they have set up armies. In the Mahabharat war, they have shown males; there are no females. In fact, you are Shiv Shaktis. Because you are in the majority, you are called the Shiv Shakti Army. Only the Father sits here and explains these things. Now, you children remember the new age. No one in the world even knows about the new age. They think that the new age will come after 40,000 years. It is very clear that the golden age is the new age. So, Baba advises you: You will be refreshed by listening to such good songs and you will explain to others as well. These are all clever methods. Only you can understand the meaning of these. There are many, very good songs with which you can to refresh yourselves. These songs help a great deal. Extract their meanings so that your mouth opens and that there is also happiness. The Father says to those who cannot imbibe well: Continue to remember the Father whilst sitting at home. Whilst living in your households, just remember this mantra: Remember the Father and become pure. Previously, a man would say to his wife: You can remember God even at home, so what need is there to wander along to the temples, etc? I will give you an image at home. Sit here and have remembrance. Why do you go to stumble around? In this way, many men wouldn’t let their wives go. To worship is the same thing as to remember. Once you have seen an image, you can remember that anyway. Krishna’s image with the peacock feather and the crown is common. You children have had visions. You have had visions of how he takes birth there, but could you take a photograph of them? No one could take an accurate one. It can only be seen with divine vision, it cannot be created. Yes, after seeing it, you can describe it. However, it cannot be painted etc. Even if the painter is clever and has a vision, he cannot draw the features accurately. So, Baba has explained: Don’t argue too much with anyone. Tell them: Your interest is in becoming pure. You ask for peace, so then, remember the Father and become pure! Pure souls cannot reside here; they would go back. Only the Father has the power to make souls pure; no one else can purify souls. You children know that all of this is the stage on which this play is performed. At this time, the whole stage is Ravan’s kingdom. The world is lying on the whole ocean. This is an unlimited island. Those are limited. This is an unlimited aspect (the island) on which the divine kingdom exists for half a cycle and the devilish kingdom exists for half a cycle. Actually, the continents are separate; but this is all a matter of the unlimited. You know that we will definitely reside on the banks of the sweet waters of the Ganges and Jamuna rivers. There will be no need to go to the sea etc. When they talk of that Dwaraka, it isn’t in the middle of the sea. Dwaraka is not a separate place. You children have had visions. In the beginning, Sandeshi and Gulzar used to have many visions. They played great parts because they had to entertain the children in the bhatthi. So, they were entertained a great deal by the visions. The Father says: At the end, you will be entertained a lot. That part (of the drama) is another thing. There is also a song: What we have seen, you didn’t see. You will continue to have visions one after another. For example, as the days of the exams draw closer, you would find out with how many marks you will pass. This too is your study. Now, it is as though you are sitting here whilst being knowledgefull. Not everyone is full. In a school, everyone is always numberwise. This too is knowledge. The incorporeal world, the subtle region – you have the knowledge of the three worlds. You know this world cycle; it continues to turn. The Father says: The knowledge that you have been given cannot be explained by anyone else. You have unlimited omens over you. Some have the omens of Jupiter, and others have the omens of an eclipse of Rahu. So, they will go and become cremators, etc. These omens are unlimited. Those omens are limited. The unlimited Father tells you unlimited things and give you the unlimited inheritance. You children have so much happiness. You have claimed sovereignty many times and lost it. This is completely true. Nothing new! You will be able to remain eternally happy. Otherwise, Maya makes you choke. So, all of you are lovers of the one Beloved. All of you lovers only remember that one Beloved. He comes and gives happiness to everyone. You have been remembering Him for half a cycle. Now that you have found Him, you should have so much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father and BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to stay constantly cheerful, make the lesson of “nothing new” firm. Maintain the happiness that the unlimited Father is giving you the unlimited sovereignty.
  2. Listen to good songs of knowledge and refresh yourself. Understand the meaning of them and explain them to others.
Blessing: May you become a conqueror of attachment and an embodiment of remembrance by becoming free from the many types of “household”.
To be a conqueror of attachment to the “household” of yourself, the “household” of the divine family, the “household” of service and the “household” of limited attainments means that in order for you to become detached, you should keep BapDada’s loving form in front of you and become an embodiment of remembrance. By becoming an embodiment of remembrance, you will automatically become a conqueror of attachment. To be free from all types of “household” means to finish the consciousness of “I” and to become a conqueror of attachment. Children who become conquerors of attachment in this way will claim a right to a reward over a long period of time by making effort for a long period of time.
Slogan: Remain as detached as a lotus flower and you will continue to receive God’s love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 February 2020

26-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें श्रीमत मिली है कि आत्म-अभिमानी बन बाप को याद करो, किसी भी बात में तुम्हें आरग्यु नहीं करना है”
प्रश्नः- बुद्धियोग स्वच्छ बन बाप से लग सके, उसकी युक्ति कौन-सी रची हुई है?
उत्तर:- 7 दिन की भट्ठी। कोई भी नया आता है तो उसे 7 दिन के लिए भट्ठी में बिठाओ जिससे बुद्धि का किचड़ा निकले और गुप्त बाप, गुप्त पढ़ाई और गुप्त वर्से को पहचान सके। अगर ऐसे ही बैठ गये तो मूंझ जायेंगे, समझेंगे कुछ नहीं।
गीत:- जाग सजनियां जाग…… 

ओम् शान्ति। बच्चों को ज्ञानी तू आत्मा बनाने के लिए ऐसे-ऐसे जो गीत हैं वह सुनाकर फिर उसका अर्थ करना चाहिए तो वाणी खुलेगी। मालूम पड़ेगा कि कहाँ तक सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बुद्धि में है। तुम बच्चों की बुद्धि में तो ऊपर से लेकर मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन के आदि-मध्य-अन्त का सारा राज़ जैसेकि चमकता है। बाप के पास भी यह ज्ञान है जो तुमको सुनाते हैं। यह है बिल्कुल नया ज्ञान। भल शास्त्र आदि में नाम है परन्तु वह नाम लेने से अटक पड़ेंगे, डिबेट करने लग पड़ेंगे। यहाँ तो बिल्कुल सिम्पुल रीति समझाते हैं-भगवानुवाच, मुझे याद करो, मैं ही पतित-पावन हूँ। कभी भी कृष्ण को वा ब्रह्मा, विष्णु, शंकर आदि को पतित-पावन नहीं कहेंगे। सूक्ष्मवतनवासियों को भी तुम पतित-पावन नहीं कहते हो तो स्थूल-वतन के मनुष्य पतित-पावन कैसे हो सकते? यह ज्ञान भी तुम्हारी बुद्धि में ही है। शास्त्रों के बारे में जास्ती आरग्यु करना अच्छा नहीं है। बहुत वाद-विवाद हो जाता है। एक-दो को लाठियाँ भी मारने लग पड़ते हैं। तुमको तो बहुत सहज समझाया जाता है। शास्त्रों की बातों में टू मच नहीं जाना है। मूल बात है ही आत्म-अभिमानी बनने की। अपने को आत्मा समझना है और बाप को याद करना है। यह श्रीमत है मुख्य। बाकी है डिटेल। बीज कितना छोटा है, बाकी झाड़ का विस्तार है। जैसे बीज में सारा ज्ञान समाया हुआ है वैसे यह सारा ज्ञान भी बीज में समाया हुआ है। तुम्हारी बुद्धि में बीज और झाड़ आ गया है। जिस प्रकार तुम जानते हो और कोई समझ न सके। झाड़ की आयु ही लम्बी लिख दी है। बाप बैठ बीज और झाड़ वा ड्रामा चक्र का राज़ समझाते हैं। तुम हो स्वदर्शन चक्रधारी। कोई नया आये, बाबा महिमा करे कि स्वदर्शन चक्रधारी बच्चों, तो कोई समझ न सके। वह तो अपने को बच्चे ही नहीं समझते हैं। यह बाप भी गुप्त है तो नॉलेज भी गुप्त है, वर्सा भी गुप्त है। नया कोई भी सुनकर मूँझ पड़ेंगे इसलिये 7 दिन की भट्ठी में बिठाया जाता है। यह जो 7 रोज भागवत वा रामायण आदि रखते हैं, वास्तव में यह इस समय 7 दिन के लिए भट्ठी में रखा जाता है तो बुद्धि में जो भी सारा किचड़ा है वह निकालें और बाप से बुद्धियोग लग जाए। यहाँ सब हैं रोगी। सतयुग में यह रोग होते नहीं। यह आधाकल्प का रोग है, 5 विकारों का रोग बड़ा भारी है। वहाँ तो देही-अभिमानी रहते हैं, जानते हो हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। पहले से साक्षात्कार हो जाता है। अकाले मृत्यु कभी होता नहीं। तुमको काल पर जीत पहनाई जाती है। काल-काल महाकाल कहते हैं। महाकाल का भी मन्दिर होता है। सिक्ख लोगों का फिर अकालतख्त है। वास्तव में अकाल तख्त यह भृकुटी है, जहाँ आत्मा विराजमान होती है। सभी आत्मायें इस अकालतख्त पर बैठी हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं। बाप को अपना तख्त तो है नहीं। वह आकर इनका यह तख्त लेते हैं। इस तख्त पर बैठकर तुम बच्चों को ताउसी तख्त नशीन बनाते हैं। तुम जानते हो वह ताउसी तख्त कैसा होगा जिस पर लक्ष्मी-नारायण विराजमान होते होंगे। ताउसी तख्त तो गाया हुआ है ना।

विचार करना है, उनको भोलानाथ भगवान क्यों कहा जाता है? भोलानाथ भगवान कहने से बुद्धि ऊपर चली जाती है। साधू-सन्त आदि अंगुली से इशारा भी ऐसे देते हैं ना कि उनको याद करो। यथार्थ रीति तो कोई जान नहीं सकते। अभी पतित-पावन बाप सम्मुख में आकर कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। गैरन्टी है। गीता में भी लिखा हुआ है परन्तु तुम गीता का एक मिसाल निकालेंगे तो वह 10 निकालेंगे, इसलिए दरकार नहीं है। जो शास्त्र आदि पढ़े हुए हैं वह समझेंगे हम लड़ सकेंगे। तुम बच्चे जो इन शास्त्रों आदि को जानते ही नहीं हो, तुम्हें उनका कभी नाम भी नहीं लेना चाहिए। सिर्फ बोलो भगवान कहते हैं मुझ अपने बाप को याद करो, उनको ही पतित-पावन कहा जाता है। गाते भी हैं पतित-पावन सीताराम……. सन्यासी लोग भी जहाँ-तहाँ धुन लगाते रहते हैं। ऐसे मत-मतान्तर तो बहुत हैं ना। यह गीत कितना सुन्दर है, ड्रामा प्लैन अनुसार कल्प-कल्प ऐसे गीत बनते हैं, जैसेकि तुम बच्चों के लिए ही बनाये हुए हैं। ऐसे-ऐसे अच्छे-अच्छे गीत हैं। जैसे नयनहीन को राह दिखाओ प्रभू। प्रभू कोई कृष्ण को थोड़ेही कहते हैं। प्रभू वा ईश्वर निराकार को ही कहेंगे। यहाँ तुम कहते हो बाबा, परमपिता परमात्मा है। है तो वह भी आत्मा ना। भक्ति मार्ग में बहुत टू मच चले गये हैं। यहाँ तो बिल्कुल सिम्पुल बात है। अल्फ और बे। अल्फ अल्लाह, बे बादशाही-इतनी तो सिम्पुल बात है। बाप को याद करो तो तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। बरोबर यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक, सम्पूर्ण निर्विकारी थे। तो बाप को याद करने से ही तुम ऐसा सम्पूर्ण बनेंगे। जितना जो याद करते हैं और सर्विस करते हैं उतना वह ऊंच पद पाते हैं। वह समझ में भी आता है, स्कूल में स्टूडेन्ट समझते नहीं हैं क्या कि हम कम पढ़ते हैं! जो पूरा अटेन्शन नहीं देते हैं तो पिछाड़ी में बैठे रहते हैं, तो जरूर फेल हो जायेंगे।

अपने आपको रिफ्रेश करने के लिए ज्ञान के जो अच्छे-अच्छे गीत बने हुए हैं उन्हें सुनना चाहिए। ऐसे-ऐसे गीत अपने घर में रखने चाहिए। किसको इस पर समझा भी सकेंगे। कैसे माया का फिर से परछाया पड़ता है। शास्त्रों में तो यह बातें हैं नहीं कि कल्प की आयु 5 हज़ार वर्ष है। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात आधा-आधा है। यह गीत भी कोई ने तो बनवाये हैं। बाप बुद्धिवानों की बुद्धि है तो कोई की बुद्धि में आया है जो बैठ बनाया है। इन गीतों आदि पर भी तुम्हारे पास कितने ध्यान में जाते थे। एक दिन आयेगा जो इस ज्ञान के गीत गाने वाले भी तुम्हारे पास आयेंगे। बाप की महिमा में ऐसा गीत गायेंगे जो घायल कर देंगे। ऐसे-ऐसे आयेंगे। ट्यून पर भी मदार रहता है। गायन विद्या का भी बहुत नाम है। अभी तो ऐसा कोई है नहीं। सिर्फ एक गीत बनाया था कितना मीठा कितना प्यारा…… बाप बहुत ही मीठा बहुत ही प्यारा है तब तो सब उनको याद करते हैं। ऐसे नहीं कि देवतायें उनको याद करते हैं। चित्रों में राम के आगे भी शिव दिखाया है, राम पूजा कर रहा है। यह है रांग। देवतायें थोड़ेही किसको याद करते हैं। याद मनुष्य करते हैं। तुम भी अभी मनुष्य हो फिर देवता बनेंगे। देवता और मनुष्य में रात-दिन का फर्क है। वही देवतायें फिर मनुष्य बनते हैं। कैसे चक्र फिरता रहता है, किसको भी पता नहीं है। तुमको अभी पता पड़ा है कि हम सच-सच देवता बनते हैं। अभी हम ब्राह्मण हैं, नई दुनिया में देवता कहलायेंगे। अभी तुम वन्डर खाते हो। यह ब्रह्मा खुद ही जो इस जन्म में पहले पुजारी था, श्री नारायण की महिमा गाते थे, नारायण से बड़ा प्रेम था। अब वन्डर लगता है, हम सो बन रहे हैं। तो कितना खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। तुम हो अननोन वारियर्स, नान वायोलेन्स। सचमुच तुम डबल अहिंसक हो। न काम कटारी, न वह लड़ाई। काम अलग है, क्रोध अलग चीज़ है। तो तुम हो डबल अहिंसक। नान वायोलेन्स सेना। सेना अक्षर से उन्होंने फिर सेनायें खड़ी कर दी हैं। महाभारत लड़ाई में मेल्स के नाम दिखाये हैं। फीमेल्स नहीं हैं। वास्तव में तुम हो शिव शक्तियां। मैजारिटी तुम्हारी होने कारण शिव शक्ति सेना कहा जाता है। यह बातें बाप ही बैठ समझाते हैं।

अभी तुम बच्चे नवयुग को याद करते हो। दुनिया में कोई को भी नवयुग का मालूम नहीं है। वह तो समझते हैं नवयुग 40 हज़ार वर्ष बाद आयेगा। सतयुग नवयुग है, यह तो बड़ा क्लीयर है। तो बाबा राय देते हैं ऐसे-ऐसे अच्छे गीत भी सुनकर रिफ्रेश होंगे और किसको समझायेंगे भी। यह सब युक्तियां हैं। इनका अर्थ भी सिर्फ तुम ही समझ सकते हो। बहुत अच्छे-अच्छे गीत हैं अपने को रिफ्रेश करने के लिए। यह गीत बहुत मदद करते हैं। अर्थ करना चाहिए तो मुख भी खुल जायेगा, खुशी भी होगी। बाकी जो जास्ती धारणा नहीं कर सकते हैं उनके लिए बाप कहते हैं घर बैठे बाप को याद करते रहो। गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ यह मंत्र याद रखो-बाप को याद करो और पवित्र बनो। आगे पुरूष लोग पत्नी को कहते थे भगवान को तो घर में भी याद कर सकते हैं फिर मन्दिरों आदि में भटकने की क्या दरकार है? हम तुमको घर में मूर्ति दे देते हैं, यहाँ बैठ याद करो, धक्का खाने क्यों जाती हो? ऐसे बहुत पुरूष लोग स्त्रियों को जाने नहीं देते थे। चीज़ तो एक ही है, पूजा करना है और याद करना है। जबकि एक बार देख लिया फिर तो ऐसे भी याद कर सकते हैं। कृष्ण का चित्र तो कॉमन है-मोरमुकुटधारी। तुम बच्चों ने साक्षात्कार किया है-कैसे वहाँ जन्म होता है, वह भी साक्षात्कार किया है, परन्तु क्या तुम उसका फ़ोटो निकाल सकते हो? एक्यूरेट कोई निकाल न सके। दिव्य दृष्टि से सिर्फ देख ही सकते हैं, बना नहीं सकते, हाँ देखकर वर्णन कर सकते हो, बाकी वह पेन्ट आदि नहीं कर सकते। भल होशियार पेन्टर हो, साक्षात्कार भी करे तो भी एक्यूरेट फीचर्स निकाल न सके। तो बाबा ने समझाया, कोई से आरग्यु जास्ती नहीं करना है। बोलो, तुमको पावन बनने से काम। और शान्ति मांगते हो तो बाप को याद करो और पवित्र बनो। पवित्र आत्मा यहाँ रह न सके। वह चली जायेगी वापिस। आत्माओं को पावन बनाने की शक्ति एक बाप में है, और कोई पावन बना नहीं सकता। तुम बच्चे जानते हो यह सारी स्टेज है, इस पर नाटक होता है। इस समय सारी स्टेज पर रावण का राज्य है। सारे समुद्र पर सृष्टि खड़ी है। यह बेहद का टापू है। वह हैं हद के। यह है बेहद की बात। जिस पर आधाकल्प दैवी राज्य, आधाकल्प आसुरी राज्य होता है। यूँ खण्ड तो अलग-अलग हैं, परन्तु यह है सारी बेहद की बात। तुम जानते हो हम गंगा जमुना नदी के मीठे पानी के कण्ठे पर ही होंगे। समुद्र आदि पर जाने की दरकार नहीं रहती। यह जो द्वारिका कहते हैं, वह कोई समुद्र के बीच होती नहीं है। द्वारिका कोई दूसरी चीज़ नहीं है। तुम बच्चों ने सब साक्षात्कार किये हैं। शुरू में यह सन्देशी और गुल्जार बहुत साक्षात्कार करती थी। इन्हों ने बड़े पार्ट बजायें हैं क्योंकि भट्ठी में बच्चों को बहलाना था। तो साक्षात्कार से बहुत-बहुत बहले हैं। बाप कहते हैं फिर पिछाड़ी में बहुत बहलेंगे। वह पार्ट फिर और है। गीत भी है ना-हमने जो देखा सो तुमने नहीं देखा। तुम जल्दी-जल्दी साक्षात्कार करते रहेंगे। जैसे इम्तहान के दिन नज़दीक होते हैं तो मालूम पड़ जाता है कि हम कितने मार्क्स से पास होंगे। तुम्हारी भी यह पढ़ाई है। अभी तुम जैसे नॉलेजफुल हो बैठे हो। सभी फुल तो नहीं होते हैं। स्कूल में हमेशा नम्बरवार होते हैं। यह भी नॉलेज है-मूलवतन, सूक्ष्मवतन, तीनों लोकों का तुमको ज्ञान है। इस सृष्टि के चक्र को तुम जानते हो, यह फिरता रहता है। बाप कहते हैं तुमको जो नॉलेज दी है, यह और कोई समझा न सके। तुम्हारे पर है बेहद की दशा। कोई पर बृहस्पति की दशा, कोई पर राहू की दशा होती है तो जाकर चण्डाल आदि बनेंगे। यह है बेहद की दशा, वह होती है हद की दशा। बेहद का बाप बेहद की बातें सुनाते हैं, बेहद का वर्सा देते हैं। तुम बच्चों को कितनी न खुशी होनी चाहिए। तुमने अनेक बार बादशाही ली है और गँवाई है, यह तो बिल्कुल पक्की बात है। नथिंग न्यु, तब तुम सदैव हर्षित रह सकेंगे। नहीं तो माया घुटका खिलाती है।

तो तुम सभी आशिक हो एक माशूक के। सब आशिक उस एक माशूक को ही याद करते हैं। वह आकर सभी को सुख देते हैं। आधाकल्प उनको याद किया है, अब वह मिला है तो कितनी खुशी होनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदैव हर्षित रहने के लिए नथिंगन्यु का पाठ पक्का करना है। बेहद का बाप हमें बेहद की बादशाही दे रहे हैं – इस खुशी में रहना है।

2) ज्ञान के अच्छे-अच्छे गीत सुनकर स्वयं को रिफ्रेश करना है। उनका अर्थ निकालकर दूसरों को सुनाना है।

वरदान:- अनेक प्रकार की प्रवृत्ति से निवृत्त होने वाले नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप भव
स्व की प्रवृत्ति, दैवी परिवार की प्रवृत्ति, सेवा की प्रवृत्ति, हद के प्राप्तियों की प्रवृत्ति इन सभी से नष्टोमोहा अर्थात् न्यारा बनने के लिए बापदादा के स्नेह रूप को सामने रख स्मृति स्वरूप बनो। स्मृति स्वरूप बनने से नष्टोमोहा स्वत: बन जायेंगे। प्रवृत्ति से निवृत्त होना अर्थात् मैं पन को समाप्त कर नष्टोमोहा बनना। ऐसे नष्टोमोहा बनने वाले बच्चे बहुतकाल के पुरूषार्थ से बहुतकाल के प्रालब्ध की प्राप्ति के अधिकारी बनेंगे।
स्लोगन:- कमल फूल समान न्यारे रहो तो प्रभू का प्यार मिलता रहेगा।

TODAY MURLI 26 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 February 2019 :- Click Here

26/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to die alive while in those bodies, practise, “I am a soul and you too are a soul.” Attachment will be broken by your practicing this.
Question: What is the highest destination? What are the signs of those who reach that destination?
Answer: To break your attachment to all bodily beings and always have the awareness of brotherhood is the highest destination. Only those who constantly practise being soul conscious can reach that destination. If you are not soul conscious, you will continue to become trapped somewhere or other – either in your own body or in the bodies of your friends and relatives. You would like something of others or you would like the body of someone. Those who are to reach the highest destination cannot love a physical body. Their awareness of bodies will have been broken.

Om shanti. The spiritual Father says to the spiritual children: Look, I have come to make all of you children the same as Myself. Now, how would the Father come here to make you the same as Himself? He is incorporeal. He says: I am incorporeal and I have come to make you children the same as Myself, that is, to make you incorporeal and to teach you how to die alive. The Father too considers Himself to be a soul. He doesn’t have any consciousness of this body. While being in a body, He doesn’t have any awareness of the body. This body doesn’t belong to Him. You children too have to remove the consciousness of the body. You souls have to come back home with Me. Just as I have taken this body on loan, in the same way, souls also take bodies on loan to play their parts. You have been taking a body for birth after birth. Now, although I am alive in this body, I am still detached, that is, I am dead to it. To shed your body is referred to as dying. You too have to die alive to your bodies. I am a soul and you too are souls. Do you want to come back with Me or do you just want to sit here? You have had attachment to bodies for birth after birth. Just as I am bodiless, you too have to consider yourselves to be bodiless while alive. We now have to go back with Baba. Just as this is Baba’s old body, so you souls also have old bodies. You have to renounce the old shoes. Just as I don’t have any attachment to this one, so you too have to remove your attachment from those old shoes. You have the habit of attachment. I don’t have that habit. I have died alive. You too have to die alive. If you want to go back home with Me, then practise this. You have so much awareness of the body, don’t even ask! Even when the body is diseased, the soul doesn’t leave it alone. You have to break your attachment to it. We definitely have to go back home with Baba. You have to consider yourselves to be separate from those bodies. This is called dying alive. Just remember your home. You have been living in a body for birth after birth and this is why you have to make effort. You have to die alive. I only enter this one temporarily. So, by moving along while considering yourself to be dead, that is, by considering yourself to be a soul, there won’t be attachment to any bodily beings. Generally, everyone has attachment to someone or other, and they can’t stay without seeing that person. You should completely remove the remembrance of bodily beings because the destination is very high. While eating and drinking, it should be as though you are not in that body. You have to make this stage firm, because only then can you enter the rosary of eight jewels. You cannot receive a high status without making effort. For as long as you live, you should consider yourselves to be residents of that place. Just as Baba is sitting in this one temporarily, in the same way, we too now have to return home. Just as Baba doesn’t have attachment, in the same way, we too should not have attachment. The Father has to sit in this body in order to explain to you children. You now have to return home. Therefore, you mustn’t have attachment to bodily beings. “This one is very good, she is very sweet.” The intellect of the soul is pulled there. The Father says: Do not look at the body; look at the soul. By looking at the body, you become trapped. The destination is very high. You have also had attachment for birth after birth. Baba doesn’t have any attachment and this is why I have come to teach you. The Father Himself says: I do not become trapped in this body. You are trapped in them. I have come to liberate you. Your 84 births have now ended. Therefore, now remove your consciousness of the body. By not being soul conscious, you continue to become trapped somewhere or other. If you like something or someone, or if you like someone’s body, you would continue to remember that one even while at home. If there is love for a body, you become defeated. Some are spoilt very much in this way. The Father says: Break the relationship of husband and wife and consider yourself to be a soul: that one is a soul and I too am a soul. By considering yourself to be a soul, the consciousness of the body will continue to be removed. By having remembrance of the Father, your sins will be absolved. You can churn this subject very well. You cannot jump with that enthusiasm without churning the ocean of knowledge. It should be firm that you definitely have to go back with the Father. The main thing is remembrance. The cycle of 84 births has now ended and it has to start again. If you don’t remove your attachment from those old bodies, you will become trapped – either in your own body or in the bodies of friends and relatives. You mustn’t attach your heart to anyone. Consider yourself to be a soul and remember the Father. I, the soul, am incorporeal and the Father is also incorporeal. You have been remembering the Father on the path of devotion for half the cycle. When you say “O Prabhu!” the Shivalingam comes in front of you. You cannot say “O Prabhu!” to a bodily being. Everyone who goes to the Shiva Temple and worships Him, considers Him to be the Supreme Soul. God, the Highest on High, is only One. He is the Highest on High, that is, the One who resides in the supreme abode. Devotion is at first unadulterated; it is devotion of just the One. Then that too becomes adulterated. The Father repeatedly explains to you children: If you want to claim a high status, then practise this. Renounce the consciousness of the body. Even sannyasis renounce the vices. Previously, they were satopradhan, but even they have now become tamopradhan. A satopradhan soul has an attraction that pulls impure souls because that soul is pure. Even though they take rebirth, because those souls are pure, they attract others and so many people become their followers. The more power of purity they have, the more followers they have. This Father is everpure and incognito. He is double, but all the strength is of that One, not of this one (Brahma). It was also that One, not this Brahma, who attracted you in the beginning, because that One is everpure. You did not run after this one. This one says: I stayed on the family path the most, for 84 births. This one cannot pull you. The Father says: I pulled you. Although sannyasis remain pure, none of them would be as pure as I am. They all relate the scriptures etc. of the path of devotion. I come and tell you the essence of all the Vedas and scriptures. They have shown a picture of Brahma emerging from the navel of Vishnu and then they show the scriptures in the hands of Brahma. Now, Vishnu would not tell you the secrets of the scriptures through Brahma. Those people also consider Vishnu to be God. The Father explains: I speak to you through this Brahma. I do not speak to you through Vishnu. There is a vast difference between Brahma and Vishnu. Brahma becomes Vishnu and then, after 84 births, there is this confluence. This is something new. These are such wonderfulthings and have to be explained. Now, the Father says: Children, you have to die alive. You are living in those bodies, are you not? You understand that you are souls. You understand that you are souls and that you will go home with Baba. You will not take those bodies etc. with you. Baba has now come. Therefore, transfer everything to the new world. People make donations and perform charity etc. in order to receive something in their next birth. You too will receive everything in the new world. Only those who did this in the previous cycle will do this. There won’t be anything more or anything less. You will continue to observe as detached observers. There is no need to say anything. Nonetheless, the Father explains: You mustn’t have any arrogance about what you have done. I, the soul, will shed this body and go home. I will then go to the new world and take a new body. It is remembered: Rama went and Ravan went. The family of Ravan is so big. You are only a handful. All of this is the community of Ravan. Your community of Rama will be so small; only 900,000. You are the stars of the earth: the mother, father and you children. So, the Father repeatedly explains to you children: Try to die alive. On seeing someone, if it enters your intellect that that person is very good or that she explains very sweetly, that too is an attack by Maya. Maya tempts you. If it is not in that one’s fortune, Maya comes in front of him. No matter how much you explain to him, he will feel angry. He wouldn’t understand that it is body consciousness that is making him do that. If you tried to explain any more, he would break. Therefore, you have to interact with everyone with love. If your heart becomes attached to someone, don’t even ask! You go crazy. Maya makes you completely senseless. This is why the Father says: Do not become trapped in the name and form of anyone. I am a soul and I must only love the one Father who is bodiless. This is the only effort. Let there be no attachment to anyone. It should not be that, while sitting at home, you continue to remember the one who gave you knowledge; that she is very sweet and explains very well. Ah! But it is the knowledge that is sweet. It is the soul that is sweet. The body is not sweet. It is the soul that speaks. Never go crazy about a body. Nowadays, there is a lot of this on the path of devotion. They continue to say “Ma! Ma!” to Anandmai Ma as they remember her. Achcha, where is the Father? Are you going to receive your inheritance from the Father or from a mother? Where does the mother receive money from? None of your sins will be cut away by simply saying “Ma, Ma”. The Father says: Constantly remember Me alone. Do not become trapped in a name or form or there would be even more sin committed because you became disobedient to the Father. Many children have forgotten the Father. The Father explains: I have come to take you children back, and so I certainly will take you back. Therefore, remember Me. Only by remembering Me will your sins be cut away. On the path of devotion, you have been remembering many, but how can you do anything without the Father? The Father doesn’t tell you to remember Ma! The Father says: Remember Me. I am the Purifier. Follow the directions of the Father. You have to continue to explain to others according to the directions of the Father. You are not purifiers. You have to remember the One alone. Mine is the one Father and none other. Baba, I will only surrender to You. You have to surrender yourself to Shiv Baba alone. The remembrance of everyone else has to be renounced. On the path of devotion, they continue to remember many. Here, you have one Shiv Baba and none other. Nevertheless, some follow their own dictates, and so what liberation or salvation will they receive? They become confused: How can I remember a point? Oh! but you do remember that you are a soul, do you not? A soul is a point. I, your Father, am also a point. You receive the inheritance from the Father. Ma (Anandmai) is still a bodily being. You are to receive your inheritance from the bodiless One. Therefore, renounce everything else and connect your intellects in yoga to the One alone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to end any consciousness of bodies, while walking and moving around, practise being dead to your body; become detached. I am not in a body. Just look at souls without bodies.
  2. You must never go crazy about anyone’s body. Have love for the one bodiless Father. Connect your intellects in yoga to the One alone.
Blessing: May you be a jewel of contentment who is always full of all attainments by using all the treasures in a worthwhile way in Brahmin life.
The greatest treasure of all in Brahmin life is to remain content. Where there are all attainments, there is contentment and where there is contentment, there is everything. Those who are jewels of contentment are embodiments of all attainments. Their song is: I have attained everything I wanted to attain. The way to be full of all attainments is to use all the treasures you have received in a worthwhile way because the more you use them in a worthwhile way, the more those treasures will increase.
Slogan: holy swan is one who always picks up pearls of goodness and not pebbles of defects.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 February 2019

To Read Murli 25 February 2019 :- Click Here
26-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस शरीर से जीते जी मरने के लिए अभ्यास करो – ‘मैं भी आत्मा, तुम भी आत्मा’ – इस अभ्यास से ममत्व निकल जायेगा”
प्रश्नः- सबसे ऊंची मंज़िल कौन-सी है? उस मंज़िल को प्राप्त करने वालों की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- सभी देहधारियों से ममत्व टूट जाए, सदा भाई-भाई की स्मृति रहे – यही है ऊंची मंज़िल। इस मंज़िल पर वही पहुँच सकते हैं जो निरन्तर देही-अभिमानी बनने का अभ्यास करते हैं। अगर देही-अभिमानी नहीं तो कहीं न कहीं फँसते रहेंगे या अपने शरीर में या किसी न किसी मित्र सम्बन्धी के शरीर में। उन्हें कोई की बात अच्छी लगेगी या कोई का शरीर अच्छा लगेगा। ऊंची मंज़िल पर पहुँ-चने वाले जिस्म (देह) से प्यार कर नहीं सकते। उनका शरीर का भान टूटा हुआ होगा।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को कहते हैं – देखो, मैं तुम सभी बच्चों को आपसमान बनाने आया हूँ। अब बाप आप समान बनाने कैसे आयेंगे? वह है निराकार, कहते हैं मैं निराकार हूँ तुम बच्चों को आपसमान अर्थात् निराकारी बनाने, जीते जी मरना सिखलाने आया हूँ। बाप अपने को भी आत्मा समझते हैं ना। इस शरीर का भान नहीं है। शरीर में रहते हुए भी शरीर का भान नहीं है। यह शरीर उनका तो नहीं है ना। तुम बच्चे भी इस शरीर का भान निकाल दो। तुम आत्माओं को ही मेरे साथ चलना है। यह शरीर जैसे मैंने लोन लिया है, वैसे आत्मायें भी लोन लेती हैं पार्ट बजाने लिए। तुम जन्म-जन्मान्तर शरीर लेते आये हो। अब जैसे मैं जीते जी इस शरीर में हूँ परन्तु हूँ तो न्यारा अर्थात् मरा हुआ। मरना शरीर छोड़ने को कहा जाता है। तुमको भी जीते जी इस शरीर से मरना है। मैं भी आत्मा, तुम भी आत्मा। तुमको भी मेरे साथ चलना है या यहाँ ही बैठना है? तुम्हारा इस शरीर में जन्म-जन्मान्तर का मोह है। जैसे मैं अशरीरी हूँ, तुम भी जीते जी अपने को अशरीरी समझो। हमको अब बाबा के साथ जाना है। जैसे बाबा का यह पुराना शरीर है, तुम आत्माओं का भी यह पुराना शरीर है। पुरानी जुत्ती को छोड़ना है। जैसे मेरा इसमें ममत्व नहीं है, तुम भी इस पुरानी जुत्ती से ममत्व निकालो। तुमको ममत्व रखने की आदत पड़ी हुई है। हमको आदत नहीं है। मैं जीते जी मरा हुआ हूँ। तुमको भी जीते जी मरना है। मेरे साथ चलना है तो अब यह प्रैक्टिस करो। शरीर का कितना भान रहता है, बात मत पूछो! शरीर रोगी हो जाता है तो भी आत्मा उसको छोड़ती नहीं है, इससे ममत्व निकालना पड़े। हमको तो बाबा के साथ जाना जरूर है। अपने को शरीर से न्यारा समझना है। इसको ही जीते जी मरना कहा जाता है। अपना घर ही याद रहता है। तुम जन्म-जन्मान्तर से इस शरीर में रहते आये हो इसलिए तुमको मेहनत करनी पड़ती है। जीते जी मरना पड़ता है। मैं तो इसमें आता ही टैप्रेरी हूँ। तो मरकर चलने से अर्थात् अपने को आत्मा समझकर चलने से कोई भी देहधारी में ममत्व नहीं रहेगा। अक्सर करके किसी न किसी का किसी में मोह हो जाता है। बस, उनको देखने बिगर रह नहीं सकते। यह देहधारी की याद एकदम उड़ा देनी चाहिए क्योंकि बहुत बड़ी मंज़िल है। खाते-पीते जैसेकि इस शरीर में हूँ ही नहीं। यह अवस्था पक्की करनी है तब 8 रत्नों की माला में आ सकते हैं। मेहनत बिगर थोड़ेही ऊंच पद मिल सकता है। जीते जी देखते हुए समझें कि मैं तो वहाँ का रहने वाला हूँ। जैसे बाबा इसमें टैप्रेरी बैठा है, ऐसे अब हमको भी घर जाना है। जैसे बाबा का ममत्व नहीं है, वैसे हमको भी इसमें ममत्व नहीं रखना है। बाप को तो इस शरीर में बैठना पड़ता है, तुम बच्चों को समझाने लिए।

तुमको अब वापिस चलना है इसलिए कोई देहधारी में ममत्व न रहे। यह फलानी बहुत अच्छी है, मीठी है – आत्मा की बुद्धि जाती है ना। बाप कहते हैं शरीर को नहीं, आत्मा को देखना है। शरीर को देखने से तुम फँस मरेंगे। बड़ी मंज़िल है। तुम्हारा भी जन्म-जन्मान्तर का पुराना ममत्व है। बाबा का ममत्व नहीं है तब तो तुम बच्चों को सिखलाने आया हूँ। बाप खुद कहते हैं मैं तो इस शरीर में नहीं फँसता हूँ, तुम फँसे हुए हो। मैं तुमको छुड़ाने आया हूँ। तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए, अब शरीर से भान निकालो। देही-अभिमानी होकर न रहने से तुम कहीं न कहीं फँसते रहेंगे। कोई की बात अच्छी लगेगी, कोई का शरीर अच्छा लगेगा, तो घर में भी उनकी याद आती रहेगी। जिस्म पर प्यार होगा तो हार खा लेंगे। ऐसे बहुत खराब हो जाते हैं। बाप कहते हैं स्त्री-पुरुष का सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो। यह भी आत्मा, हम भी आत्मा। आत्मा समझते-समझते शरीर का भान निकलता जायेगा। बाप की याद से ही विकर्म भी विनाश होंगे। इस बात पर तुम अच्छी तरह से विचार सागर मंथन कर सकते हो। विचार सागर मंथन करने बिगर तुम उछल नहीं सकेंगे। यह पक्का होना चाहिए कि हमको बाप के पास जाना है जरूर। मूल बात है याद की। 84 का चक्र पूरा हुआ फिर शुरू होना है। इस पुरानी देह से ममत्व नहीं हटाया तो फँस पड़ेंगे या अपने शरीर में या कोई मित्र-सम्बन्धी के शरीर में। तुमको तो किससे भी दिल नहीं लगानी है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। हम आत्मा भी निराकार, बाप भी निराकार, आधा-कल्प तुम भक्ति मार्ग में बाप को याद करते आये हो ना। ‘हे प्रभू’ कहने से शिवलिंग ही सामने आयेगा। कोई देहधारी को ‘हे प्रभू’ कह न सके। सभी शिव के मन्दिर में जाते हैं, उनको ही परमात्मा समझ पूजते हैं। ऊंचे से ऊंचा भगवान् एक ही है। ऊंचे से ऊंचा अर्थात् परमधाम में रहने वाला। भक्ति भी पहले अव्यभिचारी होती है एक की। फिर व्यभिचारी बन जाती है। तो बाप बार-बार बच्चों को समझाते हैं कि तुमको ऊंच पद पाना है तो यह प्रैक्टिस करो। देह का भान छोड़ो। सन्यासी भी विकारों को छोड़ते हैं ना। आगे तो सतोप्रधान थे अभी तो वह भी तमोप्रधान बन पड़े हैं। सतोप्रधान आत्मा कशिश करती है, अपवित्र आत्माओं को खींचती है क्योंकि आत्मा पवित्र है। भल पुनर्जन्म में आते हैं तो भी पवित्र होने के कारण खींचते हैं। कितने उन्हों के फालोअर्स बनते हैं। जितनी पवित्रता की जास्ती ताकत, उतने ज्यादा फालोअर्स। यह बाप तो है ही एवरप्योर और है भी गुप्त। डबल है ना, त़ाकत सारी उनकी है। इनकी (ब्रह्मा की) नहीं। शुरू में भी तुमको उसने कशिश की। इस ब्रह्मा ने नहीं क्योंकि वह तो एवरप्योर है। तुम कोई इनके पिछाड़ी नहीं भागे। यह कहते हैं मैं तो सबसे जास्ती पूरे 84 जन्म प्रवृत्ति मार्ग में रहा। यह तो तुमको खींच न सके। बाप कहते हैं मैंने तुमको खींचा। भल सन्यासी पवित्र रहते हैं। परन्तु मेरे जैसा पवित्र तो कोई भी होगा नहीं। वह तो सब भक्ति मार्ग के शास्त्र आदि सुनाते हैं। मैं आकर तुमको सब वेदों शास्त्रों का सार सुनाता हूँ। चित्र में भी दिखाया है विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला फिर ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दिखाये हैं। अब विष्णु तो ब्रह्मा द्वारा शास्त्रों का सार सुनाते नहीं हैं। वो तो विष्णु को भी भगवान् समझ लेते हैं। बाप समझाते हैं मैं इन ब्रह्मा द्वारा सुनाता हूँ। मैं विष्णु द्वारा थोड़ेही समझाता हूँ। कहाँ ब्रह्मा, कहाँ विष्णु। ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं फिर 84 जन्म के बाद यह संगम होगा। यह तो नई बातें हैं ना। कितनी वन्डरफुल बातें हैं समझाने की।

अब तो बाप कहते हैं – बच्चे, जीते जी मरना है। तुम शरीर में जीते हो ना। समझते हो हम आत्मा हैं, हम बाबा के साथ चले जायेंगे। यह शरीर आदि कुछ भी ले नहीं जाना है। अब बाबा आया है, कुछ तो नई दुनिया में ट्रांसफर कर दें। मनुष्य दान-पुण्य आदि करते हैं दूसरे जन्म में पाने के लिए। तुमको भी नई दुनिया में मिलना है। यह भी करेंगे वही जिन्होंने कल्प पहले किया होगा। कम जास्ती कुछ भी होगा नहीं। तुम साक्षी होकर देखते रहेंगे। कुछ कहने की भी दरकार नहीं रहती। फिर भी बाप समझाते हैं जो कुछ करते हैं तो उसका भी अहंकार नहीं आना चाहिए। हम आत्मा यह शरीर छोड़कर जायेंगे। वहाँ नई दुनिया में जाकर नया शरीर लेंगे। गाया भी जाता है राम गयो रावण गयो….. रावण का परिवार कितना बड़ा है। तुम तो मुट्ठी भर हो। यह सारा रावण सम्प्रदाय है। तुम्हारा राम सम्प्रदाय कितना थोड़ा होगा – 9 लाख। तुम धरनी के सितारे हो ना। माँ-बाप और तुम बच्चे। तो बाप बार-बार बच्चों को समझाते हैं कि मरजीवा बनने की कोशिश करो। अगर किसको देखकर बुद्धि में आता है – यह बहुत अच्छी है, बहुत मीठा समझाती है, यह भी माया का वार होता है, माया ललचा देती है। उनकी तकदीर में नहीं है तो माया सामने आ जाती है। कितना भी समझाओ तो गुस्सा लगेगा। यह नहीं समझते हैं कि यह देह-अभिमान ही काम करा रहा है। अगर ज्यादा समझाते हैं तो टूट पड़ते हैं इसलिए प्यार से चलाना पड़ता है। किससे दिल लग जाता है तो बात मत पूछो, पागल हो जाते हैं। माया एकदम बेसमझ बना देती है इसलिए बाप कहते हैं कभी कोई के नाम-रूप में नहीं फँसना। मैं आत्मा हूँ और एक बाप जो विदेही है, उनसे ही प्यार रखना है। यही मेहनत है। कोई भी देह में ममत्व न हो। ऐसे नहीं, घर में बैठे भी वह ज्ञान देने वाली याद आती रहे – बड़ी मीठी है, बहुत अच्छा समझाती है। अरे, मीठा तो ज्ञान है। मीठी आत्मा है। शरीर थोड़ेही मीठा है। बात करने वाली भी आत्मा है। कभी भी शरीर पर आशिक नहीं होना है।

आजकल तो भक्ति मार्ग बहुत है। आनन्दमई माँ को भी माँ-माँ करते याद करते रहते हैं। अच्छा, बाप कहाँ है? वर्सा बाप से मिलना है या माँ से? माँ को भी पैसा कहाँ से मिलेगा? सिर्फ माँ-माँ कहने से जरा भी पाप नहीं कटेंगे। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। नाम रूप में नहीं फँसना है, और ही पाप हो जायेगा क्योंकि बाप का ऩाफरमानबरदार बनते हो। बहुत बच्चे भूले हुए हैं। बाप समझाते हैं मैं तुम बच्चों को लेने आया हूँ सो जरूर ले जाऊंगा, इसलिए मेरे को याद करो। एक मुझे याद करने से ही तुम्हारे पाप कटेंगे। भक्ति मार्ग में बहुतों को याद करते आये हो। परन्तु बाप बिगर कोई काम कैसे होगा। बाप थोड़ेही कहते हैं माँ को याद करो। बाप तो कहते हैं मुझे याद करो। पतित-पावन मैं हूँ। बाप के डायरेक्शन पर चलो। तुम भी बाप के डायरेक्शन पर औरों को समझाते रहो। तुम थोड़ेही पतित-पावन ठहरे। याद एक को ही करना है। हमारा तो एक बाप, दूसरा न कोई। बाबा हम आप पर ही वारी जायेंगे। वारी जाना तो शिवबाबा पर ही है और सबकी याद छूट जानी चाहिए। भक्ति मार्ग में तो बहुतों को याद करते रहते हैं। यहाँ तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। फिर भी कोई अपनी चलाते हैं तो क्या गति-सद्गति होगी! मूँझ पड़ते हैं – बिन्दी को कैसे याद करें? अरे, तुमको अपनी आत्मा याद है ना कि मैं आत्मा हूँ। वह भी बिन्दी रूप ही है। तो तुम्हारा बाप भी बिन्दी है। बाप से वर्सा मिलता है। माँ तो फिर भी देह-धारी हो जाती है। तुमको विदेही से ही वर्सा मिलना है इसलिए और सब बातें छोड़ एक से बुद्धियोग लगाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शरीर का भान खत्म करने के लिए चलते-फिरते अभ्यास करना है-जैसे कि इस शरीर से मरे हुए हैं, न्यारे हैं। शरीर में हैं ही नहीं। बिगर शरीर आत्मा को देखो।

2) कभी भी किसी के शरीर पर तुम्हें आशिक नहीं होना है। एक विदेही बाप से ही प्यार रखना है। एक से ही बुद्धियोग लगाना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सर्व खजानों को सफल कर सदा प्राप्ति सम्पन्न बनने वाले सन्तुष्टमणि भव
ब्राह्मण जीवन का सबसे बड़े से बड़ा खजाना है सन्तुष्ट रहना। जहाँ सर्व प्राप्तियां हैं वहाँ सन्तुष्टता है और जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ सब कुछ है। जो सन्तुष्टता के रत्न हैं वह सब प्राप्ति स्वरूप हैं, उनका गीत है पाना था वह पा लिया… ऐसे सर्व प्राप्ति सम्पन्न बनने की विधि है – मिले हुए सर्व खजानों को यूज़ करना क्योंकि जितना सफल करेंगे उतना खजाने बढ़ते जायेंगे।
स्लोगन:- होलीहंस उन्हें कहा जाता जो सदा अच्छाई रूपी मोती ही चुगते हैं, अवगुण रूपी कंकड़ नहीं।
Font Resize