daily murli 25 october

TODAY MURLI 25 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

25/10/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
09/04/86

Signs of a True Server.

Today, the Sun of Knowledge and the Moon of Knowledge are seeing all the stars of the constellation of Earth. All the stars are sparkling and emanating their light and sparkle. There is variety amongst the stars: some are special stars of knowledge, some are easy yogi stars, some are stars who are images of donating virtues, some are stars who are constant servers and some are stars who are constantly complete. However, the most elevated of all are the stars who have success at every second. As well as these, there are some who are still only stars of hope. On the one hand, there are the stars of hope and, on the other, the stars of success. There is a vast difference between these two and yet the influence of each kind of star falls on the souls of the world and also on matter. The stars of success influence everyone with their zeal and enthusiasm. The stars of hope sometimes experience love and sometimes labour. So, because they are under both of these influences, they exert them on others, as they move forward. However, having hopes they still move forward. So, each of you can ask yourself: “Which star am I?” All the stars have knowledge, yoga, virtues and the feelings of service, but some specifically have the sparkle of knowledge, some the speciality of remembrance and yoga, and some especially attract others by being images of all virtues. Even though all four aspects are being imbibed, there is a difference in the percentage imbibed. This is why there is some variety visible in the sparkling stars. This is a unique, spiritual constellation. Your influence as spiritual stars falls on the world, just as physical stars influence the world. To the extent that you stars become powerful yourselves, to that extent there will be an influence on the souls of the world and this will continue to happen in the future. The greater the darkness all around, the more clearly visible the sparkle of the stars would be. Therefore, as the darkness of lack of attainment continues to increase, and it will continue to increase, the more they will experience the special influence of you spiritual stars. Everyone will be able to see you in the form of the sparkling stars of Earth, in your form of points of light, as bodies of light, as angels. Just as they use their time, energy and money researching into the stars of the sky, when they see you spiritual stars, they will be amazed. Just as they watch the stars in the sky now, in the same way, they will watch the constellation of this Earth, the sparkle of the angels and the beauty of the stars emanating light. They will experience this and ask, “Who are they? Where have they come from to show their magic?” At the beginning of establishment people everywhere had a wave of experiences of visions of Brahma and Krishna: “Who is this? What am I seeing?” The attention of many was drawn to try and understand it. In the same way, now, at the end, everywhere in the world, through this sparkle of both forms (light and angel), they will have visions of BapDada and the children. From one it will spread to many and the attention of all will be drawn here. This divine scene is waiting for all of you to become complete. When you experience this angelic stage easily and automatically, there will then truly be visions of angels. This year has especially been given so that you can create the angelic stage. Some children are thinking, “Will we just need to practise remembrance or will we also do service? Or, will we be liberated from doing service and just sit in tapasya?” BapDada is now telling you the true meaning of service.

Feelings of service means to have constantly good wishes for every soul, to have feelings of the most elevated pure desires. The feelings to serve means to give every soul fruit, according to their own feelings, and not to have any limited feelings but to have the most elevated feelings. If anyone has a feeling of seeking spiritual love from you or a feeling of wanting co-operation or any of the powers or of happiness or zeal and enthusiasm, or a feeling of attaining all powers, then to serve means to give them the fruit of all of those various feelings. That is, to inspire them with your co-operation, to experience that. This is what is meant by true feelings of service. Just simply to give a speech or to explain to groups, or to give the course to someone or open a centre doesn’t mean to have feelings of service. To do service means to serve souls in such a way that they experience some attainment. When service is done in this way, there is also tapasya within that.

You have heard the significance of tapasya; it is to perform a task with determination. Where there are accurate feelings of service, the feeling of tapasya is not separate from those. Where there is a combined form of renunciation, tapasya and service, that is true service. If there is service without renunciation and tapasya, it is service only in name and its fruit is only temporary. Service is done, the influence of temporary fruit is reaped and it finishes there. The influence of temporary attainment is temporary praise. They will say, “It has been a very good lecture; you gave the course very well; you did very good service”. So, by someone speaking of the goodness, temporary fruit was received. The one who spoke also received temporary fruit. However, to give an experience means to enable them to forge a relationship with the Father and to make them powerful. This is true service. If there isn’t renunciation and tapasya in true service, it isn’t even 50% service but 25% service.

The sign of a true server is renunciation, that is, humility and tapasya, that is, determination of having faith and intoxication in the one Father. This is what is meant by accurate service. BapDada is asking you to become constantly true servers. If, in the name of service, you get disturbed or you disturb others, then BapDada asks you to free yourself from that type of service. In that case, it would be better not to do that type of service, because the special virtue experienced from doing service is contentment. Where there isn’t contentment, either with yourself or with those with whom you are in contact, then that service will not bring you fruit, nor will it allow others to attain fruit. Therefore, first simply make yourself a jewel of contentment and then do service. Otherwise, there will definitely be a subtle burden. Many varieties of burdens become obstacles to the flying stage. You don’t want to increase your burden but you want to remove it. When you have this consciousness, it is better to be in solitude because, by staying in solitude, you will pay attention to self-transformation. The tapasya that BapDada is speaking about is not a question of just sitting in tapasya day and night, though to sit in tapasya is also to do service, but you have to be a lighthouse and mighthouse and spread rays of peace, rays of power and create such an atmosphere. Along with tapasya, there is service through the mind; it isn’t separate. Otherwise, what sort of tapasya would you do? You are already elevated souls, Brahmin souls, but tapasya means to be full of all powers and with your determined stage and determined thoughts to serve the world. To serve with words alone isn’t service. Just as happiness, peace and purity are related, in the same way, renunciation, tapasya and service are all related to one another. BapDada is asking you to become the form of tapasya, that is, to become the form of a powerful server. The drishti of someone who is an embodiment of tapasya will also do service. The face of someone who is an embodiment of peace will also do service. Simply having a glimpse of someone who is an image of tapasya will give the experience of attainment. Look how, nowadays, huge crowds gather to have a glimpse of someone who just does limited tapasya. That is the memorial of the influence of your tapasya which will continue, even now, to the very end. Do you understand what is meant by feelings of service? Feelings of service, means feelings with which you can merge all the weaknesses of others. It doesn’t mean feelings of opposing the weaknesses of others, but to have feelings of merging; for you to have tolerance and a feeling of wanting to give power to others. This is why they use the term “the power of tolerance”. To tolerate means to fill oneself with power and give power to others. To tolerate doesn’t mean to die. Some think that by tolerating they will die. They say, “Do I have to die?” However, that isn’t dying; it is the way to live in everyone’s heart with love. No matter how much opposition there may be – they may be even stronger than Ravan and you may have to tolerate not just once, but ten times – the fruit of tolerance is eternal and sweet, for they will also definitely change. Don’t feel, “I have tolerated so much so they should also do something in return.” Don’t have feelings of temporary fruit; have feelings of mercy. This is what is meant by feelings of service. So, this year, give the proof of doing true service and take a golden chance to come into the list of those who have given the proof of that. This year, Baba will not see that you had a good mela (spiritual fair) or a good function, but you have to claim a numberahead in the service of being jewels of contentment and of giving contentment to others. Claim a prize in the ceremony of winning the title of “destroyer of obstacles”. Do you understand? This is the stage that is described as “being a destroyer of attachment and an embodiment of remembrance.” So, now, show the special form of becoming complete, of reaching the conclusion in this 18th year, by being an embodiment of that 18th chapter. This is the stage described as ‘being like the Father’. Achcha.

To the spiritual stars who are constantly sparkling, to the jewels of contentment who spread waves of contentment, to the powerful souls who influence others with their constant renunciation, tapasya and service simultaneously, to those who constantly give all souls spiritual fruit, spiritual feelings, to each elevated child who is a seed like the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste for becoming perfect.

Avyakt BapDada meeting the brothers and sisters from the Punjab and Hariyana Zones:

Do you constantly experience yourselves to be immovable and unshakeable souls? To remain stable in any situation of upheaval is a sign of being an elevated Brahmin soul. The world is in upheaval, but you elevated souls cannot come into upheaval. Why? You know every scene of the dramaKnowledge-full and powerful souls constantly and automatically remain unshakeable. Therefore, the atmosphere never makes you afraid. You are fearless. Are the Shaktis fearless? Or, do you have a little fear? Because you knew, even before the time of establishment, that civil war was going to take place in Bharat, it has also been shown in your pictures from the beginning. Therefore, whatever is shown will happen, will it not? The part of Bharat is of having civil war; this is why it is nothing new. So, is it nothing new, or do you become afraid? “What happened?” “How did it happen?” “This happened…” The task of all of you, while listening to and seeing the news, is to be powerful and see the predestined drama and to give power to others. People of the world are afraid, whereas you fill those souls with power. You have to continue to donate power to whoever comes into contact with you. Continue to donate peace to them.

At this time of peacelessness, it is the time to give peace. Therefore, you are messengers of peace. “Messengers of peace” has been remembered. Therefore, wherever you live, continue to move around considering yourselves to be messengers of peace. You are messengers of peace, those who give the message of peace. Therefore, if you yourselves are embodiments of peace and are powerful, you will also continue to give that to others. They give you peacelessness and you give them peace. They cause a fire and you throw water on it. This is your task, is it not? This is called being a true server. Therefore, at such a time, there is a need for this type of service. Bodies are perishable but souls are powerful, so even if one you leave your body, the reward of remembrance will continue in the next body. So, continue to inspire others to have permanent attainment. So, who are you? Messengers of peace! Messengers of peace are master donors of peace and master donors of power. Are you constantly able to maintain this awareness? Always continue to make yourselves move forward with this awareness and also enable others to move forward. This is doing service. Whatever government laws there are, you do have to follow them, but you can definitely continue to serve with your mind and words, whenever you get a little time. There is now a great need to do service through the mind, but only when you have filled yourselves with power will you be able to give it to others. Therefore, children of the constant Bestower of Peace, become bestowers of peace. You have to be bestowers as well as those who show the way to become a bestower. As you move around, remember: I am a master bestower of peace, a master bestower of power. With this awareness, continue to give vibrations to all souls. Only then will they realise that they can experience peace by coming into contact with you. Therefore, remember the blessing that you have to become master bestowers of peace and power. You are all brave, are you not? Let there not be any waste thoughts even in upheaval, because waste thoughts will not allow you to become powerful. “What will happen?”, “This will not happen, will it?” is waste. Whatever happens, watch it in a powerful stage and give power to others. Those “side scenes will also come. That is a “byplot that is taking place. Watch it whilst considering it to be a “by plot and you will not be afraid. Achcha.

At the time of farewell (at amrit vela)

This confluence age is amrit vela. Because the whole of the confluence age is amrit vela, the greatness of this time is remembered for all time. So, the whole of the confluence age, that is, amrit vela means the diamond morning. The Father is always with the children and the children are with the Father and so, an unlimited diamond morning. BapDada always keeps saying this, but in terms of being in the corporeal form in the physical world, even today, BapDada is giving all of you children, whatever you call it, a “good morning”, “golden morning” or a “diamond morning.” All of you are diamonds and the morning is also diamond. It is to make you even more of a diamond, and so a good morning for always being with the Father. Achcha.

Blessing: Blessing: May you be a conqueror of Maya and a master of the self and make the five elements and the five vices your servers.
In the golden age, the maids hold the trains of the royal costumes of the world emperor and world empress. In the same way, at the confluence age, you children must remain decorated with the dress of your titles of Conquerors of Maya and Masters of the self. The five elements and the five vices will then hold your dress from behind, that is, they will move along while being subservient to you. For this, tighten your dress of titles with the belt of determination, be decorated with the sets of different costumes and ornaments and stay with the Father. Those vices and elements will then be transformed and become your co-operative companions.
Slogan: Become lost in the experience of the virtues and powers you speak of. Experience is the greatest authority.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

25-10-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 09-04-86 मधुबन

सच्चे सेवाधारी की निशानी

आज ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा अपने धरती के तारा मण्डल में सभी सितारों को देख रहे हैं। सितारे सभी चमकते हुए अपनी चमक वा रोशनी दे रहे हैं। भिन्न-भिन्न सितारे हैं। कोई विशेष ज्ञान सितारे हैं, कोई सहज योगी सितारे हैं, कोई गुणदान मूर्त सितारे हैं। कोई निरन्तर सेवाधारी सितारे हैं। कोई सदा सम्पन्न सितारे हैं। सबसे श्रेष्ठ हैं हर सेकण्ड सफलता के सितारे। साथ-साथ कोई-कोई सिर्फ उम्मीदों के सितारे भी हैं। कहाँ उम्मीदों के सितारे और कहाँ सफलता के सितारे! दोनों में महान अन्तर है। लेकिन हैं दोनों सितारे और हर एक भिन्न-भिन्न सितारों का विश्व की आत्माओं पर, प्रकृति पर अपना-अपना प्रभाव पड़ रहा है। सफलता के सितारे चारों ओर अपना उमंग-उत्साह का प्रभाव डाल रहे हैं। उम्मीदों के सितारे स्वयं भी कभी मुहब्बत, कभी मेहनत दोनों प्रभाव में रहने कारण दूसरों में आगे बढ़ने की उम्मीद रख बढ़ते जा रहे हैं। तो हर एक अपने आपसे पूछो कि मैं कौन-सा सितारा हूँ? सभी में ज्ञान, योग, गुणों की धारणा और सेवा भाव है भी लेकिन सब होते हुए भी किसमें ज्ञान की चमक है तो किसमें विशेष याद की, योग की है। और कोई-कोई अपने गुण-मूर्त की चमक से विशेष आकर्षित कर रहा है। चारों ही धारणा होते हुए भी परसेन्टेज में अन्तर है इसलिए भिन्न-भिन्न सितारे चमकते हुए दिखाई दे रहे हैं। यह रूहानी विचित्र तारामण्डल है। आप रूहानी सितारों का प्रभाव विश्व पर पड़ता है। तो विश्व के स्थूल सितारों का भी प्रभाव विश्व पर पड़ता है। जितना शक्तिशाली आप स्वयं सितारे बनते हो उतना विश्व की आत्माओं पर प्रभाव पड़ रहा है और आगे पड़ता ही रहेगा। जैसे जितना घोर अन्धियारा होता है तो सितारों की रिमझिम ज्यादा स्पष्ट दिखाई देती है। ऐसे अप्राप्ति का अंधकार बढ़ता जा रहा है और जितना बढ़ता जा रहा है, बढ़ता जायेगा उतना ही आप रूहानी सितारों का विशेष प्रभाव अनुभव करते जायेंगे। सभी को धरती के चमकते हुए सितारे ज्योति बिन्दु के रूप में प्रकाशमय काया फरिश्ते के रूप में दिखाई देंगे। जैसे अभी आकाश के सितारों के पीछे वह अपना समय, एनर्जी और धन लगा रहे हैं। ऐसे रूहानी सितारों को देख आश्चर्यवत होते रहेंगे। जैसे अभी आकाश में सितारों को देखते हैं, ऐसे इस धरती के मण्डल में चारों ओर फरिश्तों की झलक और ज्योर्तिमय सितारों की झलक देखेंगे, अनुभव करेंगे – यह कौन हैं, कहाँ से इस धरती पर अपना चमत्कार दिखाने आये हैं। जैसे स्थापना के आदि में अनुभव किया है कि चारों ओर ब्रह्मा और कृष्ण के साक्षात्कार की लहर फैलती गई। यह कौन है? यह क्या दिखाई देता है? यह समझने के लिए बहुतों का अटेन्शन गया। ऐसे अब अन्त में चारों ओर यह दोनों रूप “ज्योति और फरिश्ता” उसमें बाप-दादा और बच्चे सबकी झलक दिखाई देगी। और सभी का एक से अनेकों का इसी तरफ स्वत: ही अटेन्शन जायेगा। अभी यह दिव्य दृश्य आप सबके सम्पन्न बनने तक रहा हुआ है। फरिश्ते पन की स्थिति सहज और स्वत: अनुभव करें तब वह साक्षात फरिश्ते साक्षात्कार में दिखाई देंगे। यह वर्ष फरिश्तेपन की स्थिति के लिए विशेष दिया हुआ है। कई बच्चे समझते हैं कि क्या सिर्फ याद का अभ्यास करेंगे वा सेवा भी करेंगे वा सेवा से मुक्त हो तपस्या में ही रहेंगे। बापदादा सेवा का यथार्थ अर्थ सुना रहे हैं:-

सेवाभाव अर्थात् सदा हर आत्मा के प्रति शुभ भावना। श्रेष्ठ कामना का भाव। सेवा भाव अर्थात् हर आत्मा की भावना प्रमाण फल देना। भावना हद की नहीं लेकिन श्रेष्ठ भावना। आप सेवाधारियों प्रति अगर कोई रूहानी स्नेह की भावना रखते, शक्तियों के सहयोग की भावना रखते, खुशी की भावना रखते, शक्तियों के प्राप्ति की भावना रखते, उमंग उत्साह की भावना रखते, ऐसे भिन्न-भिन्न भावना का फल अर्थात् सहयोग द्वारा अनुभूति कराना, तो सेवा भाव इसको कहा जाता है। सिर्फ स्पीच करके आ गये, या ग्रुप समझाकर आ गये, कोर्स पूरा कराके आ गये, वा सेन्टर खोलकर आ गये, इसको सेवाभाव नहीं कहा जाता। सेवा अर्थात् किसी भी आत्मा को प्राप्ति का मेवा अनुभव कराना, ऐसी सेवा में तपस्या सदा साथ है।

तपस्या का अर्थ सुनाया – दृढ़ संकल्प से कोई भी कार्य करना। जहाँ यथार्थ सेवा भाव है वहाँ तपस्या का भाव अलग नहीं। त्याग, तपस्या, सेवा इन तीनों का कम्बाइन्ड रूप सच्ची सेवा है, और नामधारी सेवा का फल अल्प-काल का होता है। वहाँ ही सेवा की और वहाँ ही अल्पकाल के प्रभाव का फल प्राप्त हुआ और समाप्त हो गया, अल्पकाल के प्रभाव का फल अल्पकाल की महिमा है – बहुत अच्छा भाषण किया, बहुत अच्छा कोर्स कराया, बहुत अच्छी सेवा की। तो अच्छा-अच्छा कहने का अल्प-काल का फल मिला और उनको महिमा सुनने का अल्पकाल का फल मिला। लेकिन अनुभूति कराना अर्थात् बाप से सम्बन्ध जुड़वाना, शक्तिशाली बनाना – यह है सच्ची सेवा। सच्ची सेवा में त्याग तपस्या न हो तो यह 50-50 वाली सेवा नहीं, लेकिन 25 प्रतिशत सेवा है।

सच्चे सेवाधारी की निशानी है – त्याग अर्थात् नम्रता और तपस्या अर्थात् एक बाप के निश्चय, नशे में दृढ़ता। यथार्थ सेवा इसको कहा जाता है। बापदादा निरन्तर सच्चे सेवाधारी बनने के लिए कहते हैं। नाम सेवा हो और स्वयं भी डिस्टर्ब हो, दूसरे को भी डिस्टर्ब करे – इस सेवा से मुक्त होने के लिए बापदादा कह रहे हैं। ऐसी सेवा न करना अच्छा है क्योंकि सेवा का विशेष गुण “सन्तुष्टता” है। जहाँ सन्तुष्टता नहीं, चाहे स्वयं से चाहे सम्पर्क वालों से, वह सेवा न स्वयं को फल की प्राप्ति करायेगी, न दूसरों को। इससे स्वयं अपने को पहले सन्तुष्टमणी बनाए फिर सेवा में आवे, वह अच्छा है। नहीं तो सूक्ष्म बोझ जरूर है। वह अनेक प्रकार का बोझ उड़ती कला में विघ्न रूप बन जाता है। बोझ चढ़ाना नहीं है, बोझ उतारना है। जब ऐसा समझते हो तो इससे एकान्तवासी बनना अच्छा है क्योंकि एकान्त-वासी बनने से स्व परिवर्तन का अटेन्शन जायेगा। तो बापदादा तपस्या जो कह रहे हैं – वह सिर्फ दिन रात बैठे-बैठे तपस्या के लिए नहीं कह रहे हैं। तपस्या में बैठना भी सेवा ही है। लाइट हाउस, माइट हाउस बन शान्ति की, शक्ति की किरणों द्वारा वायुमण्डल बनाना है। तपस्या के साथ मन्सा सेवा जुड़ी हुई है। अलग नहीं है। नहीं तो तपस्या क्या करेंगे! श्रेष्ठ आत्मा ब्राह्मण आत्मा तो हो गये। अब तपस्या अर्थात् स्वयं सर्व शक्तियों से सम्पन्न बन दृढ़ स्थिति, दृढ़ संकल्प द्वारा विश्व की सेवा करना। सिर्फ वाणी की सेवा, सेवा नहीं है। जैसे सुख-शान्ति पवित्रता का आपस में सम्बन्ध है वैसे त्याग, तपस्या, सेवा का सम्बन्ध है। बापदादा तपस्वी रूप अर्थात् शक्तिशाली सेवाधारी रूप बनाने के लिए कहते हैं। तपस्वी रूप की दृष्टि भी सेवा करती। उनका शान्त स्वरूप चेहरा भी सेवा करता, तपस्वी मूर्त के दर्शन मात्र से भी प्राप्ति की अनुभूति होती है इसलिए आजकल देखो जो हठ से तपस्या करते हैं उनके दर्शन के पीछे भी कितनी भीड़ हो जाती है। यह आपकी तपस्या के प्रभाव का यादगार अन्त तक चला आ रहा है। तो समझा सेवा भाव किसको कहा जाता है। सेवा भाव अर्थात् सर्व की कमजोरियों को समाने का भाव। कमजोरियों का सामना करने का भाव नहीं, समाने का भाव। स्वयं सहन कर दूसरे को शक्ति देने का भाव इसलिए सहनशक्ति कहा जाता है। सहन करना शक्ति भरना और शक्ति देना है। सहन करना, मरना नहीं है। कई सोचते हैं हम तो सहन करते करते मर जायेंगे। क्या हमें मरना है क्या! लेकिन यह मरना नहीं है। यह सब के दिलों में स्नेह से जीना है। कैसा भी विरोधी हो, रावण से भी तेज हो, एक बार नहीं 10 बार सहन करना पड़े फिर भी सहनशक्ति का फल अविनाशी और मधुर होगा। वह भी जरूर बदल जायेगा। सिर्फ यह भावना नहीं रखो कि मैंने इतना सहन किया, तो यह भी कुछ करें। अल्पकाल के फल की भावना नहीं रखो। रहम भाव रखो – इसको कहा जाता है “सेवाभाव”। तो इस वर्ष ऐसी सच्ची सेवा का सबूत दे सपूत की लिस्ट में आने का गोल्डन चान्स दे रहे हैं। इस वर्ष यह नहीं देखेंगे कि मेला वा फंक्शन बहुत अच्छा किया। लेकिन सन्तुष्टमणियाँ बन सन्तुष्टता की सेवा में नम्बर आगे जाना। “विघ्न-विनाशक” टाइटिल के सेरीमनी में इनाम लेना। समझा! इसी को ही कहा जाता है “नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप।” तो 18 वर्ष की समाप्ति का यह विशेष सम्पन्न बनने का अध्याय स्वरूप में दिखाओ। इसको ही कहा जाता “बाप समान बनना।” अच्छा!

सदा चमकते हुए रूहानी सितारों को सदा सन्तुष्टता की लहर फैलाने वाली सन्तुष्ट मणियों को, सदा एक ही समय पर त्याग, तपस्या, सेवा का प्रभाव डालने वाले प्रभावशाली आत्माओं को, सदा सर्व आत्माओं को रूहानी भावना का रूहानी फल देने वाले बीज स्वरूप बाप समान श्रेष्ठ बच्चों को बाप-दादा का सम्पन्न बनने का यादप्यार और नमस्ते।

पंजाब तथा हरियाणा ज़ोन के भाई-बहनों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

सदा अपने को अचल अडोल आत्मायें अनुभव करते हो? किसी भी प्रकार की हलचल में अचल रहना, यही श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्माओं की निशानी है। दुनिया हलचल में हो लेकिन आप श्रेष्ठ आत्मायें हलचल में नहीं आ सकती। क्यों? ड्रामा की हर सीन को जानते हो। नॉलेजफुल आत्मायें, पावरफुल आत्मायें सदा स्वत: ही अचल रहती हैं। तो कभी वायुमण्डल से घबराते तो नहीं हैं! निर्भय हो? शक्तियां निर्भय हो? या थोड़ा-थोड़ा डर लगता है? क्योंकि यह तो पहले से ही स्थापना के समय से ही जानते हो कि भारत में सिविल वार होनी ही है। यह शुरू के चित्रों में ही आपका दिखाया हुआ है। तो जो दिखाया है वह होना तो है ना! भारत का पार्ट ही सिविलवार से है इसलिए नथिंग न्यू। तो नथिंग न्यू है या घबरा जाते हो? क्या हुआ, कैसे हुआ, यह हुआ… समाचार सुनते देखते भी ड्रामा की बनी हुई भावी को शक्तिशाली बन देखते और औरों को भी शक्ति देते – यही काम है ना आप सबका! दुनिया वाले घबराते रहते और आप उन आत्माओं में शक्ति भरते। जो भी सम्पर्क में आये, उसे शक्तियों का दान देते चलो। शांति का दान देते चलो।

अभी समय है अशान्ति के समय शान्ति देने का। तो शान्ति के मैसेन्जर हो। शान्ति दूत गाये हुए हैं ना! तो कभी भी कहाँ भी रहते हो चलते हो, सदा अपने को शान्ति के दूत समझकर चलो। शान्ति के दूत हैं, शान्ति का सन्देश देने वाले है तो स्वयं भी शान्त स्वरूप शक्ति-शाली होंगे और दूसरों को भी देते रहेंगे। वह अशान्ति देवें आप शान्ति दो। वह आग लगायें आप पानी डालो। यही काम है ना। इसको कहते हैं सच्चे सेवाधारी। तो ऐसे समय पर इसी सेवा की आवश्यकता है। शरीर तो विनाशी है, लेकिन आत्मा शक्तिशाली होती है तो एक शरीर छूट भी जाता है तो दूसरे में याद की प्रालब्ध चलती रहेगी इसलिए अविनाशी प्राप्ती कराते चलो। तो आप कौन हो? शान्ति के दूत। शान्ति के मैसेन्जर, मास्टर शान्ति दाता, मास्टर शक्ति दाता। यह स्मृति सदा रहती है ना! सदा अपने को इसी स्मृति से आगे बढ़ाते चलो। औरों को भी आगे बढ़ाओ यही सेवा है! गवर्मेन्ट के कोई भी नियम होते हैं तो उनको पालन करना ही पड़ता है लेकिन जब थोड़ा भी समय मिलता है तो मन्सा से, वाणी से सेवा जरूर करते रहो। अभी मन्सा सेवा की तो बहुत आवश्यकता है, लेकिन जब स्वयं में शक्ति भरी हुई होगी तब दूसरों को दे सकेंगे। तो सदा शान्तिदाता के बच्चे शान्ति दाता बनो। दाता भी हो तो विधाता भी हो। चलते-फिरते याद रहे – मैं मास्टर शान्ति दाता, मास्टर शक्ति दाता हूँ – इसी स्मृति से अनेक आत्माओं को वायब्रेशन देते रहो। तब वह महसूस करेंगे कि इनके सम्पर्क में आने से शान्ति की अनुभूति हो रही है। तो यही वरदान याद रखना कि बाप समान मास्टर शान्ति दाता, शक्ति दाता बनना है। सभी बहादुर हो ना! हलचल में भी व्यर्थ संकल्प नहीं चले क्योंकि व्यर्थ संकल्प समर्थ बनने नहीं देगा। क्या होगा, यह तो नहीं होगा… यह व्यर्थ है। जो होगा उसको शक्तिशाली होकर देखो और दूसरों को शक्ति दो। यह भी साइडसीन्स आती हैं। यह भी एक बाईप्लाट चल रहा है। बाई-प्लाट समझकर देखो तो घबरायेंगे नहीं। अच्छा!

विदाई के समय (अमृतवेले)

यह संगमयुग ‘अमृतवेला’ है। पूरा ही संगमयुग अमृतवेला होने के कारण इस समय की सदा के लिए महानता गाई जाती है। तो पूरा ही संगमयुग अर्थात् अमृतवेला अर्थात् डायमण्ड मार्निंग। सदा बाप बच्चों के साथ है और बच्चे बाप के साथ हैं इसलिए बेहद की डायमण्ड मार्निंग। बापदादा सदा कहते ही रहते हैं लेकिन व्यक्त स्वरूप में व्यक्त देश के हिसाब से आज भी सभी बच्चों को सदा साथ रहने की गुडमार्निंग कहो, गोल्डन मार्निंग कहो, डायमण्ड मार्निंग कहो जो भी कहो वह बापदादा सभी बच्चों को दे रहे हैं। स्वयं भी डायमण्ड हो और मार्निंग भी डायमण्ड है, और भी डायमण्ड बनाने की है, इसलिए सदा साथ रहने की गुडमार्निंग। अच्छा!

वरदान:- पांचों तत्वों और पांचों विकारों को अपना सेवाधारी बनाने वाले मायाजीत स्वराज्य अधिकारी भव
जैसे सतयुग में विश्व महाराजा व विश्व महारानी की राजाई ड्रेस को पीछे से दास-दासियां उठाते हैं, ऐसे संगमयुग पर आप बच्चे जब मायाजीत स्वराज्य अधिकारी बन टाइटल्स रूपी ड्रेस से सजे सजाये रहेंगे तो ये 5 तत्व और 5 विकार आपकी ड्रेस को पीछे से उठायेंगे अर्थात् अधीन होकर चलेंगे, इसके लिए दृढ़ संकल्प की बेल्ट से टाइटल्स की ड्रेस को टाइट करो, भिन्न भिन्न ड्रेस और श्रृंगार के सेट से सज-धज कर बाप के साथ रहो तो यह विकार वा तत्व परिवर्तन हो सहयोगी सेवाधारी हो जायेंगे।
स्लोगन:- जिन गुणों वा शक्तियों का वर्णन करते हो उनके अनुभवों में खो जाओ। अनुभव ही सबसे बड़ी अथॉर्टी है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 October 2019

To Read Murli 24 October 2019:- Click Here
25-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम बच्चों को कुम्भी पाक नर्क से निकालने के लिए, तुम बच्चों ने बाप को निमंत्रण भी इसलिए दिया है”
प्रश्नः- तुम बच्चे बहुत बड़े ते बड़े कारीगर हो – कैसे? तुम्हारी कारीगरी क्या है?
उत्तर:- हम बच्चे ऐसी कारीगरी करते हैं जो सारी दुनिया ही नई बन जाती है, उसके लिए हम कोई ईट या तगारी आदि नहीं उठाते हैं लेकिन याद की यात्रा से नई दुनिया बना देते हैं। हमें खुशी है कि हम नई दुनिया की कारीगरी कर रहे हैं। हम ही फिर ऐसे स्वर्ग के मालिक बनेंगे।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझाते हैं, तुम जब अपने-अपने गांव से निकलते हो तो यह बुद्धि में रहता है कि हम जाते हैं शिवबाबा की पाठशाला में। ऐसे नहीं कि कोई साधू-सन्त आदि का दर्शन करने वा शास्त्र आदि सुनने आते हो। तुम जानते हो हम जाते हैं शिवबाबा के पास। दुनिया के मनुष्य तो समझते हैं शिव ऊपर में रहते हैं। वह जब याद करते हैं तो आंखे खोलकर नहीं बैठते। वह आंख बन्द कर ध्यान में बैठते हैं। शिवलिंग जो देखा हुआ होता है। भल शिव के मन्दिर में जायेंगे तो भी शिव को याद करेंगे तो ऊपर में देखेंगे वा मन्दिर याद आयेगा। कई फिर आंखे बन्दकर बैठते हैं। समझते हैं दृष्टि कहाँ भी नाम-रूप में अगर जायेगी तो हमारी साधना टूट जायेगी। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भल शिवबाबा को याद करते थे। कोई कृष्ण को याद करते, कोई राम को याद करते, कोई अपने गुरू को याद करते, गुरू का भी छोटा लॉकेट बनाकर पहनते हैं। गीता का भी इतना छोटा लॉकेट बनाकर पहनते हैं। भक्ति मार्ग में तो सब ऐसे ही हैं। घर बैठे भी याद करते हैं। याद में यात्रा करने भी जाते हैं। चित्र तो घर में रखकर पूजा कर सकते हैं परन्तु यह भी भक्ति की रस्म पड़ी हुई है। जन्म-जन्मान्तर यात्राओं पर जाते हैं। चारों धाम की यात्रा करते हैं। चार धाम क्यों कहते हैं? वेस्ट, ईस्ट, नार्थ, साउथ…… चारों का चक्र लगाते हैं। भक्ति मार्ग जब शुरू होता है तो पहले एक की भक्ति की जाती है, उसको कहा जाता है अव्यभिचारी भक्ति। सतोप्रधान थे, अभी तो इस समय हैं तमोप्रधान। भक्ति भी व्यभिचारी, अनेकों को याद करते रहते हैं। तमोप्रधान 5 तत्वों का बना हुआ शरीर, उनको भी पूजते हैं। तो गोया तमोप्रधान भूतों की पूजा करते हैं, परन्तु इन बातों को कोई समझते थोड़ेही हैं। भल यहाँ बैठे हैं परन्तु बुद्धियोग कहाँ भटकता रहता है। यहाँ तो तुम बच्चों को आंखे बन्द कर शिवबाबा को याद नहीं करना है। जानते हो बाप बहुत-बहुत दूरदेश का रहने वाला है। वह आकर बच्चों को श्रीमत देते हैं। श्रीमत पर चलने से ही श्रेष्ठ देवता बनेंगे। देवताओं की सारी राजधानी स्थापन हो रही है। तुम यहाँ बैठे अपना देवी-देवताओं का राज्य स्थापन करते हो। पहले तुमको पता थोड़ेही था वह कैसे स्थापन होता है। अभी जानते हो बाबा हमारा बाप भी है, टीचर बनकर पढ़ाते हैं और फिर साथ में भी ले जायेंगे, सद्गति करेंगे। गुरू लोग किसकी सद्गति नहीं करते हैं। यहाँ तुमको समझाया जाता है – यह एक ही बाप, टीचर, सतगुरू है। बाप से वर्सा मिलता है, सतगुरू पुरानी दुनिया से नई दुनिया में ले जायेंगे। इन सब बातों को बूढ़ी-बूढ़ी मातायें तो समझ न सकें। उन्हों के लिए मुख्य बात है अपने को आत्मा समझ शिवबाबा को याद करना है। हम शिवबाबा के बच्चे हैं, हमको बाबा स्वर्ग का वर्सा देंगे। बूढ़ी माताओं को फिर ऐसे-ऐसे तोतली भाषा में बैठ समझाना चाहिए। यह तो हर एक आत्मा का हक है बाप से वर्सा लेना। मौत तो सामने खड़ा है। पुरानी दुनिया सो फिर जरूर नई बननी है। नई सो पुरानी। घर को बनने में कितने थोड़े मास लगते हैं फिर पुराना होने में 100 वर्ष लग जाते हैं।

अभी तुम बच्चे जानते हो यह पुरानी दुनिया अब खलास होनी है। यह लड़ाई जो अब लगती है वह फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद लगेगी। यह सब बातें बुढ़ियायें तो समझ न सकें। यह फिर ब्राह्मणियों का काम है उन्हों को समझाना। उनके लिए तो एक अक्षर ही काफी है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। तुम आत्मा परमधाम में रहने वाली हो। फिर यहाँ शरीर लेकर पार्ट बजाती हो। आत्मा यहाँ दु:ख और सुख का पार्ट बजाती है। मूल बात बाप कहते हैं – मुझे याद करो और सुखधाम को याद करो। बाप को याद करने से पाप कट जायेंगे और फिर स्वर्ग में आ जायेंगे। अब जितना जो याद करेंगे उतना पाप कटेंगे। बुढ़ियायें तो हिरी हुई हैं, सतसंगों में जाकर कथा सुनती हैं। उन्हों को फिर घड़ी-घड़ी बाप की याद दिलानी है। स्कूल में तो पढ़ाई होती, कथा नहीं सुनी जाती। भक्तिमार्ग में तो तुमने ढेर कथायें सुनी हैं परन्तु उनसे कुछ भी फायदा नहीं होता है। छी-छी दुनिया से नई दुनिया में तो जा न सकें। मनुष्य न तो रचयिता बाप को, न रचना को जानते हैं। नेती-नेती कह देते हैं। तुम भी आगे नहीं जानते थे। अभी तुम भक्ति मार्ग को अच्छी रीति जान गये हो। घर में भी बहुतों के पास मूर्तियाँ होती हैं, चीज़ वही है, कोई-कोई पति लोग भी स्त्री को कहते हैं – तुम घर में मूर्ति रख बैठ पूजा करो। बाहर धक्का खाने क्यों जाती हो, परन्तु उन्हों की भावना रहती है। अभी तुम समझते हो तीर्थ यात्रा करना माना भक्ति मार्ग के धक्के खाना। अनेक बार तुमने 84 के चक्र काटे। सतयुग-त्रेता में तो कोई यात्रा नहीं होती। वहाँ कोई मन्दिर आदि होता नहीं। यह यात्रायें आदि सब भक्ति मार्ग में ही होती हैं। ज्ञान मार्ग में यह सब कुछ होता नहीं। उनको कहा जाता है भक्ति। ज्ञान देने वाला तो एक के सिवाए दूसरा कोई है नहीं। ज्ञान से ही सद्गति होती है। सद्गति दाता एक ही बाप है। शिवबाबा को कोई श्री श्री नहीं कहते, उनको टाइटिल की दरकार नहीं। यह तो बड़ाई करते हैं, उनको कहते ही हैं ‘शिवबाबा’। तुम बुलाते हो शिवबाबा हम पतित बन गये हैं, हमको आकर पावन बनाओ। भक्तिमार्ग के दुबन में गले तक फँस पड़े हैं। फँसकर फिर चिल्लाते हैं, विषय वासना के दुबन में एकदम फँस पड़ते हैं। सीढ़ी नीचे उतरते-उतरते फँस पड़ते हैं। कोई को भी पता नहीं पड़ता, तब कहते हैं बाबा हमको निकालो। बाबा को भी ड्रामा अनुसार आना ही पड़ता है। बाप कहते हैं मैं बंधायमान हूँ, इन सबको दुबन से निकालने। इनको कहा जाता है कुम्भी पाक नर्क। रौरव नर्क भी कहते हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं, उनको पता थोड़ेही पड़ता है।

तुम बाप को देखो निमंत्रण कैसा देते हो। निमंत्रण तो कोई शादी-मुरादी आदि पर दिया जाता है। तुम कहते हो – हे पतित-पावन बाबा, इस पतित दुनिया, रावण की पुरानी दुनिया में आओ। हम गले तक इसमें फँसे हुए हैं। सिवाए बाप के और तो कोई निकाल न सके। कहते भी हैं दूर-देश का रहने वाला शिवबाबा, यह रावण का देश है। सबकी आत्मा तमोप्रधान हो गई है इसलिए बुलाते भी हैं कि आकर पावन बनाओ। पतित-पावन सीताराम, ऐसे गाते चिल्लाते हैं। ऐसे नहीं कि वह पवित्र रहते हैं। यह दुनिया ही पतित है, रावण राज्य है, इनमें तुम फँस पड़े हो। फिर यह निमंत्रण दिया है – बाबा आकर हमको कुम्भी पाक नर्क से निकालो। तो बाप आये हैं। कितना तुम्हारा ओबीडियेंट सर्वेन्ट है। ड्रामा में अपार दु:ख तुम बच्चों ने देखे हैं। टाइम पास होता जाता है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। अब बाप तुमको लक्ष्मी-नारायण जैसा बनाते हैं फिर तुम आधाकल्प राज्य करेंगे – स्मृति में लाओ। अभी टाइम बहुत थोड़ा है। मौत शुरू हो जायेगा तो मनुष्य वायरे हो जायेंगे। (मूंझ जायेंगे) थोड़े समय में क्या हो जायेगा। कई तो ठका सुनकर भी हार्टफेल हो जायेंगे। मरेंगे ऐसे जो बात मत पूछो। देखो ढेर बूढ़ी मातायें आई हैं। बिचारी कुछ भी समझ न सकें। जैसे तीर्थों पर जाते हैं ना, तो एक-दो को देख तैयार हो पड़ते हैं, हम भी चलते हैं।

अभी तुम जानते हो भक्ति मार्ग के तीर्थ यात्रा का अर्थ ही है नीचे उतरना, तमोप्रधान बनना। बड़े ते बड़ी यात्रा तुम्हारी यह है। जो तुम पतित दुनिया से पावन दुनिया में जाते हो। तो इन बच्चियों को कुछ तो शिवबाबा की याद दिलाते रहो। शिवबाबा का नाम याद है? थोड़ा बहुत सुनती हैं तो स्वर्ग में आयेंगी। यह फल जरूर मिलना है। बाकी पद तो है पढ़ाई से। उसमें बहुत फर्क पड़ जाता है। ऊंच ते ऊंच फिर कम से कम, रात-दिन का फर्क पड़ जाता है। कहाँ प्राइम मिनिस्टर, कहाँ नौकर चाकर। राजधानी में नम्बरवार होते हैं। स्वर्ग में भी राजधानी होगी। परन्तु वहाँ पाप आत्मायें गन्दे विकारी नहीं होंगे। वह है ही निर्विकारी दुनिया। तुम कहेंगे हम यह लक्ष्मी-नारायण जरूर बनेंगे। तुमको हाथ उठाते देख बूढ़ियां आदि भी सब हाथ उठा देंगी। समझती कुछ नहीं हैं। फिर भी बाप के पास आई हैं तो स्वर्ग में तो जायेंगी परन्तु सब ऐसे थोड़ेही बनेंगी। प्रजा भी बनेंगी। बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज हूँ, तो बाबा गरीबों को देख खुश होते हैं। भल कितने भी बड़े ते बडे साहूकार पदमपति हैं, उनसे भी यह ऊंच पद पायेंगे – 21 जन्मों के लिए। यह भी अच्छा है। बूढ़ियां जब आती हैं तो बाप को खुशी होती है फिर भी कृष्णपुरी में तो जायेंगी ना। यह है रावणपुरी, जो अच्छी रीति पढ़ेंगे तो कृष्ण को भी गोद में झुलायेंगे। प्रजा थोड़ेही अन्दर आ सकेगी। वह तो कभी करके दीदार करेगी। जैसे पोप दीदार कराते हैं खिड़की से, लाखों आकर इकट्ठे होते हैं दर्शन करने। परन्तु उनका हम क्या दीदार करेंगे। एवर पावन तो एक ही बाप है जो तुमको आकर पावन बनाते हैं। सारे विश्व को सतोप्रधान बनाते हैं। वहाँ यह 5 भूत रहेंगे नहीं। 5 तत्व भी सतोप्रधान बन जाते हैं, तुम्हारे गुलाम बन जाते हैं। कभी भी ऐसी गर्मी नहीं होगी जो नुकसान हो जाए। 5 तत्व भी कायदे अनुसार चलते हैं। अकाले मृत्यु नहीं होती। अभी तुम स्वर्ग में चलते हो तो नर्क से बुद्धियोग निकाल लेना चाहिए। जैसे नया मकान बनाते हैं तो पुराने से बुद्धि हट जाती है। बुद्धि नये में चली जाती है, यह फिर है बेहद की बात। नई दुनिया की स्थापना हो रही है, पुरानी का विनाश होना है। तुम हो नई दुनिया स्वर्ग बनाने वाले। तुम बहुत अच्छे कारीगर हो। अपने लिए स्वर्ग बना रहे हो। कितने बड़े अच्छे कारीगर हो, याद की यात्रा से नई दुनिया स्वर्ग बनाते हो। थोड़ा भी याद करो तो स्वर्ग में आ जायेंगे। तुम गुप्त वेष में अपना स्वर्ग बना रहे हो। जानते हो हम इस शरीर को छोड़ फिर जाकर स्वर्ग में निवास करेंगे तो ऐसे बेहद के बाप को भूलना नहीं चाहिए। अभी तुम स्वर्ग में जाने के लिए पढ़ रहे हो। अपनी राजधानी स्थापन करने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। यह रावण की राजधानी खलास हो जानी है। तो अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए। हमने यह स्वर्ग तो अनेक बार बनाया है, राजाई ली फिर गँवाई है। यह भी याद करो तो बहुत अच्छा। हम स्वर्ग के मालिक थे, बाप ने हमको ऐसा बनाया था। बाप को याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म होंगे। कितना सहज रीति तुम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो। पुरानी दुनिया के विनाश के लिए कितनी चीज़ें निकलती रहती हैं। कुदरती आपदायें, मूसल (मिसाइल्स) आदि द्वारा सारी पुरानी दुनिया खत्म होगी। अब बाप आये हैं तुमको श्रेष्ठ मत देने, श्रेष्ठ स्वर्ग की स्थापना करने। अनेक बार तुमने यह स्थापना की है तो बुद्धि में याद रखना चाहिए। अनेक बार राज्य लिया फिर गँवाया है। यह बुद्धि में चलता रहे और एक-दो को भी यह बातें सुनाओ। दुनियावी बातों में समय नहीं गँवाना चाहिए। बाप को याद करो, स्वदर्शन चक्रधारी बनो। यहाँ बच्चों को अच्छी रीति सुनकर फिर बहुत उगारना है, सिमरण करना है, बाबा ने क्या सुनाया। शिवबाबा और वर्से को तो जरूर याद करना चाहिए। बाप हथेली पर बहिश्त ले आये हैं, पवित्र भी बनना है। पवित्र नहीं बनेंगे तो सज़ा खानी पड़ेगी। पद भी बहुत छोटा पा लेंगे। स्वर्ग में ऊंच पद पाना है तो अच्छी रीति धारणा करो। बाप रास्ता तो बहुत सहज बताते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सुनाते हैं उसे अच्छी तरह सुनकर फिर उगारना है। दुनियावी बातों में अपना समय नहीं गँवाना है।

2) बाप की याद में आंखें बन्द करके नहीं बैठना है। श्रीकृष्ण की राजधानी में आने के लिए पढ़ाई अच्छी रीति पढ़नी है।

वरदान:- मनमनाभव हो अलौकिक विधि से मनोरंजन मनाने वाले बाप समान भव
संगमयुग पर यादगार मनाना अर्थात् बाप समान बनना। यह संगमयुग के सुहेज हैं। खूब मनाओ लेकिन बाप से मिलन मनाते हुए मनाओ। सिर्फ मनोरंजन के रूप में नहीं लेकिन मन्मनाभव हो मनोरंजन मनाओ। अलौकिक विधि से अलौकिकता का मनोरंजन अविनाशी हो जाता है। संग-मयुगी दीपमाला की विधि – पुराना खाता खत्म करना, हर संकल्प, हर घड़ी नया अर्थात् अलौकिक हो। पुराने संकल्प, संस्कार-स्वभाव, चाल-चलन यह रावण का कर्जा है इसे एक दृढ़ संकल्प से समाप्त करो।
स्लोगन:- बातों को देखने के बजाए स्वयं को और बाप को देखो।

TODAY MURLI 25 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 24 October 2019:- Click Here

25/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children the Father has come to remove you from the depths of hell. It was for this that you children invited the Father here.
Question: How are you children the greatest craftsmen? What is your craftsmanship?
Answer: You children carry out such great craftsmanship that the whole world becomes new. For this you do not carry bricks and mortar but you make the world new by having the pilgrimage of remembrance. You have the happiness that you are constructing the new world. You will then become the masters of that heaven.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the sweetest children. When you leave your villages to come here, your intellects understand that you are going to Shiv Baba’s school. It is not that you are going to have a glimpse of a sage or holy man or to listen to a scripture. You understand that you are going to Shiva Baba. People of the world believe that Shiva resides up above. However, when they remember Him, they do not sit with their eyes open. They sit in meditation with their eyes closed because they have an image of a Shiva lingam in their minds. When they go to a Shiva Temple and remember Shiva, they look upwards, or they remember the temple. Many sit with their eyes closed. They believe that if their vision is drawn towards anyone’s name or form, their spiritual endeavour would break. You children now know that, although you used to remember Shiva Baba, some of you would also remember Krishna, others would remember Rama and others would remember their guru. People make a little locket of their guru and wear that. They also make a locket of a small Gita and wear that. It is all like that on the path of devotion. They remember God whilst sitting at home. They go on pilgrimages whilst in remembrance. They could still keep a picture at home and worship that, but it is a system of the path of devotion to go on pilgrimages for birth after birth. They go to all four corners on pilgrimages. Why do they speak of four pilgrimages? They tour around in all four directions: east, west, north and south. When the path of devotion starts, there is only the worship of One. That is called unadulterated devotion. You were satopradhan but, at this time, you are tamopradhan. Devotion also becomes adulterated and they continue to remember many. They even worship tamopradhan bodies made of the five elements. Therefore, they are worshipping the tamopradhan evil spirits. However, none of them understands these things. Although they may be sitting here, their intellects’ yoga continues to wander elsewhere. You children must not sit here and remember Shiva Baba with your eyes closed. You understand that the Father is the Resident of a land very far away. He comes and gives you children shrimat. It is by following shrimat that you will become elevated deities. The entire kingdom of the deities is now being established. Whilst sitting here, you are establishing your deity kingdom. Previously, you did not know how it is established. You now know that Baba is your Father, that He becomes your Teacher and teaches you and that He then takes you back with Him and grants you salvation. Those gurus cannot grant salvation to anyone. Here, it is explained to you that that One alone is the Father, the Teacher and the Satguru. You receive your inheritance from the Father. The Satguru takes you from the old world to the new world. Old mothers cannot understand all of these things. The main thing is for them to consider themselves to be souls and to remember Shiva Baba. You should sit and explain to the old mothers in simple language: We are children of Shiva Baba and Baba will give us our inheritance of heaven. Every soul has a right to claim his inheritance from the Father. Death is standing in front of you. The old world will definitely become new. Then the new will become old. It takes a few months to build a new house but it takes 100 years for it to become old again. You children now know that the old world is to be destroyed. The war that is to take place now will take place again after 5000 years. The old mothers are not able to understand all of these things. It is the duty of you teachers to explain to them. For them, even one sentence is enough: Consider yourself to be a soul and remember the Father. You, the soul, are a resident of the supreme abode. Then, you come here and take a body to play your part. Souls play their parts of happiness and sorrow here. The main thing the Father says is: Remember Me and the land of happiness. By remembering the Father, your sins will be cut away and you will go to heaven. The more you now remember the Father, the more your sins will be cut away. Old mothers have the habit of listening to religious stories at spiritual gatherings. They have to be reminded again and again to remember the Father. In a school you study, you do not listen to religious stories. You heard many stories on the path of devotion but there was no benefit in them. You were not able to go from this dirty world to the new world. Human beings neither know the Father, the Creator, nor His creation. They say: Neti, neti (neither this nor that). Previously, you too did not know. You have now come to know the path of devotion very well. Many have idols in their homes. It is the same thing (whether in a temple or a home). Some husbands tell their wives: Keep the idol at home and worship that. Why do you have to go wandering about outside? However, they have the devotional feeling of going to a temple. You now understand that to go on pilgrimages means to stumble along on the path of devotion. You have been around the cycle of 84 births many times. There are no pilgrimages in the golden and silver ages. There are no temples etc. there either. All of those pilgrimages etc. only take place on the path of devotion. None of those things take place on the path of knowledge. That is called devotion. No one, except the One, can give you this knowledge. There is salvation through knowledge. The Father alone is the Bestower of Salvation. No one can call Shiva Baba Shri, Shri. He does not need a title. They just praise His greatness. They call Him “Shiva Baba”. You call out to Him: Shiva Baba, we have become impure! Come and purify us! People have sunk up to their necks in the bog of the path of devotion. They become trapped in that and then cry out. They are completely trapped in that bog of the poison of vices. They become trapped as they come down the ladder. No one knows what to do, and so they say: Baba, remove us from here! According to the drama, Baba has to come. The Father says: I am bound to remove everyone from this bog. This bog is called the extreme depths of hell. The Father sits here and explains this. Those people do not know this. Just look at the sort of invitation you give the Father! Invitations are generally given for weddings etc. You say: O Purifier Baba, come into this impure old world of Ravan! We are trapped in it up to our necks. No one, except the Father, can remove us from it. You even say: Shiva Baba, Resident of the faraway land. This is the kingdom of Ravan, every soul has become tamopradhan and this is why they call out: Come and purify us! They sing out loudly: Purifier! Rama of Sita! It is not that they remain pure. This world is impure; it is the kingdom of Ravan and you are trapped in it. This is why you have given this invitation: Baba come and remove us from these extreme depths of hell. Therefore, the Father has come. He is such an Obedient Servant of yours. You children have witnessed limitless sorrow in this dramaTime continues to pass. One second cannot be the same as the next. The Father is now making you become like Lakshmi and Narayan and you will then rule for half a cycle. Bring this into your awareness. Very little time now remains. When death begins to take place, people will become confused. So much will happen in just a short time. Some will have heart failure as soon as they even hear a bang. Some will die in such a way, don’t even ask! Just look! Many old mothers have come. Poor helpless mothers cannot understand anything. When they see others going on a pilgrimage, they too get ready to go. You now understand that the meaning of a pilgrimage on the path of devotion is to descend and become tamopradhan. This pilgrimage of yours is the greatest pilgrimage. It is with this that you go from the impure world to the pure world. So, you should at least remind these children of Shiva Baba. Ask them: Do you remember Shiva Baba? Even if they hear a little, they will go to heaven. They definitely receive this fruit. However, it is through the study that you receive a status. There is a lot of difference in the status. There is the difference of day and night between the highest of all and the lowest of all. There is a vast difference between a Prime Minister and a servant. All are numberwise in a kingdom. There will be a kingdom in heaven too, but there will not be any sinful, vicious, dirty souls there. That is the viceless world. You say that you will definitely become Lakshmi and Narayan. When the old mothers see you raise your hands, they also raise their hands; they do not understand anything. Nevertheless, they have come to the Father and so they will go to heaven. However, not everyone can attain the same status; there have to be subjects too. The Father says: I am the Lord of the Poor. Therefore, Baba is pleased to see the poor ones. No matter how wealthy a great multimillionaire may be, the poor can claim a higher status for 21 births than he can. This too is good. When old mothers come here, the Father is pleased, because they will at least go to the land of Krishna. This is the land of Ravan. Those of you who study well will be able to rock Krishna in your lap. Subjects will not be allowed to enter the palace. They will perhaps have a glimpse, just as the Pope gives a glimpse of himself through a window. Hundreds of thousands of people gather outside to have a glimpse of him. However, why would we want to have a glimpse of him? There is only the one Father who is everpure and He comes to make us pure. He makes the whole world satopradhan. These five evil spirits will not exist there. The five elements become satopradhan; they will become your slaves. The climate will never be so hot that damage is caused. The five elements function systematically. There is no untimely death there. Now that you are going to heaven, you should remove your intellects’ yoga from hell. It is the same as when you build a new house, your intellect moves away from the old one. Your intellect is drawn to the new one. However, this is an unlimited aspect. The new world is being established and the old world is to be destroyed. You are the ones who are constructing the new world of heaven. You are very good craftsmen. You are constructing heaven for yourselves. You are such very good craftsmen that you are constructing the new world of heaven by having the pilgrimage of remembrance. Even if you have little remembrance, you will go to heaven. You are creating your heaven in an incognito way. You understand that you will now shed your present bodies and then go and live in heaven. Therefore, you must never forget such an unlimited Father. You are now studying to go to heaven. You are making effort to establish your kingdom. This kingdom of Ravan is about to be destroyed. Therefore, you should experience such happiness inside. We have created heaven many times before. We have claimed the kingdom and also lost it many times before. Even if you remember this, it is very good. We were the masters of heaven. The Father made us become like that. Remember the Father and your sins will be burnt away. You are establishing heaven in such an easy way. So many things have been invented for the destruction of the old world. The whole of the old world will be destroyed through natural calamities and missiles etc. The Father has now come to give you the most elevated directions and to establish elevated heaven. You should keep it in your intellects that you have established heaven many times. You have claimed your kingdom many times and you have then lost it many times. Continue to spin this in your intellects and also speak about these things to one another. You must not waste your time speaking about worldly matters. Remember the Father and become spinners of the discus of self-realisation. Here, you children have to listen to all of this very carefully and then digest it well. You constantly have to think about what Baba says. You definitely do have to remember Shiv Baba and the inheritance. The Father has brought heaven for you on the palm of His hand. You also have to become pure. If you do not become pure, you will have to endure punishment and you will receive a very low status. If you want to claim a high status in heaven, imbibe this well. The Father shows you a very easy path. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen carefully to everything that the Father tells you and then digest it well. Don’t waste time speaking about worldly matters.
  2. Do not sit in remembrance of the Father with your eyes closed. In order to go to the kingdom of Shri Krishna, you must study well.
Blessing: May you be equal to the Father and be entertained with the alokik method of “Manmanabhav”.
To celebrate a memorial at the confluence age means to be equal to the Father. This is to celebrate the festivity of the confluence age. Celebrate as much as you want, but celebrate while meeting the Father, not just as entertainment, but be entertained by being “Manmanabhav”. Spiritual entertainment celebrated in an alokik way becomes imperishable. The method of the confluence-aged “Deepmala” (garland of lights) is to finish old accounts, and to let every thought and every moment be new, that is, alokik. Old thoughts, old nature and old sanskars, old behaviour etc. are all debts to Ravan. Therefore, finish all of them with one determined thought.
Slogan: Instead of looking at the situations look at yourself and the Father.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 25 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 October 2018 :- Click Here

25/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this study is very inexpensive and easy. The basis of your status is not whether you are rich or poor, but how you study. Therefore, pay full attention to studying.
Question: What is the first qualification of knowledgeable souls?
Answer: Their interaction with everyone is extremely sweet. To have friendship with some and enmity with others is not the qualification of knowledgeable souls. The Father’s shrimat is: Children, become extremely sweet. Practise: I, the soul, am making this body function. I now have to return home.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop. 

Om shanti. Whose praise did the children hear? That of the Incorporeal, the unlimited Father. He is the Ocean of Knowledge, the Highest on High. He alone is called the highest-on-high Father. He is also called the Supreme Teacher, that is, the Ocean of Knowledge. You now understand that this is the praise of our Father. Through Him the stage of us children also has to become like His. He is the greatest of all fathers. He is not a sage or holy man. That One is the unlimited Father, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. It is in the intellects of you children that that One is our unlimited Mother, Father, Husband etc. He is everything for us but, nonetheless, that intoxication doesn’t stay all the time; children repeatedly forget this. That One is the highest Father of all and the sweetest Father of all whom everyone has been remembering for half the cycle. They do not remember Lakshmi and Narayan as much. The God of the devotees is only the one incorporeal One. Everyone remembers that One alone. Although some believe in Lakshmi and Narayan or Ganesh etc., they would still say the words “O God!” The words “O Supreme Soul” definitely emerge from everyone’s lips. Souls remember Him. Physical devotees remember physical things. In spite of that, souls are so faithful to their Father that they definitely remember Him. In their sorrow, the sound quickly emerges: Oh Supreme Soul! They definitely understand that God is incorporeal, but they don’t know the importance of that. Now that He has come personally in front of you, you have come to know the importance. He is the Creator of heaven. He is teaching us personally. This is the only study. There are many different types of study of physical things. If someone’s mind is not set on studying, he would leave that study. There is no question of money etc. in this study. That Government also gives free education to the poor. Here, this study is free anyway; there are no fees etc. The Father is called the Lord of the Poor. Only the poor study here. This is a very easy and inexpensive study. Human beings insure themselves. Here, you also insure everything. You say: Baba, You Yourself give us the return for 21 births in heaven. On the path of devotion, they don’t say: O Supreme Father, Supreme Soul, give us an inheritance for 21 births. You now know that you are insuring yourselves directly. This one always says that it is God who gives the fruit. God gives to everyone. Whether it is to a sage or holy man or to someone with occult powers, it is God who gives to everyone. The soul says: It is God who gives to everyone. When someone donates or performs charity, it is still God who gives the fruit of that. There is no expense in this study. Baba has explained that the poor also insure just as much. A wealthy person might have insurance for one hundred thousand and he would receive the return of one hundred thousand. When a poor person insures one rupee, and a wealthy person insures 5000, the return of both is equal. It is very easy for the poor; there are no fees etc. Poor and wealthy – both have a right to receive the inheritance from the Father. Everything depends on how you study. When the poor study well, their status becomes even higher than that of the wealthy. This study is an income. It is very inexpensive and very easy. You simply have to know the beginning, the middle and the end of the human world tree. No human being knows it. No one can be trikaldarshi. Everyone says that God is infinite. They believe that the Supreme Soul is the Seed of the human world tree. This is an inverted tree. Nevertheless, they say that they don’t know it accurately. It would only be the Father who is knowledgefull who tells you about it accurately. Everything depends on how you children study. You now know this, numberwise, according to the effort you make. You are master oceans of knowledge. Not everyone can be the same. Some are big rivers and others are small rivers. You all study according to your own efforts. You children know that that is our unlimited Father. You have to belong to Him and follow His shrimat. For some, it is said: That poor person is under the influence of someone else. They are influenced by Maya and follow wrong dictates. Shrimat are the versions of God through which you become the most elevated of all deities. When you first have faith, you can then meet Shiv Baba. Baba can understand when someone doesn’t have accurate faith. They understand that the Father of souls is the One, but it is very difficult for them to have the faith that He has entered this one and is giving us the inheritance. When this sits in their intellects and they put it in writing, you can then bring that writing to Baba. They would understand that this is right and that what they previously understood for so long was wrong. God is not omnipresent. He is the unlimited Father. Bharat truly receives the inheritance every cycle at the confluence age from the unlimited Father. It received it at the confluence age at this same time and it is once again receiving it now. They should be made to write this: Truly, the Father only comes at the confluence age. He comes and creates heaven through the BKs. When they put this in writing, you will be able to explain whom they have come to and what they have come to take. God’s form is incorporeal. Because of not knowing the form of God, they say that He is the brahm element. It has been explained to you children that He is a point. It would not sit in the intellect of anyone else that God is a point. They say of a soul that a star shines in the centre of the forehead. That is a tiny thing. So you have to think about who the actor is. Such a tiny soul has such a big, imperishable part recorded within Him. When someone goes deep into these things, you have to explain to him. You, the soul, say: I have taken 84 births. The whole of that part is merged in the tiny soul, the point, and it continues to emerge. People will be amazed by these things. No one can understand these things. Our 84 births are repeating. This drama is predestined. People become amazed when they hear how a part is fixed in each soul. Truly, I, the soul, say: I, the soul, shed one body and take another. This part of mine is fixed and it repeats according to the drama. Those who have weak intellects can’t imbibe these things. You have to remember this: I take 84 births and play my part; I adopt a body. When you continue to remember these things, it would be said that you are fully trikaldarshi and that you are also making effort to make others trikaldarshi. You children need courage to be able to explain this. You have to become sticks for the blind and awaken everyone from their sleep. Awaken, o brides, awaken! The new world is now being established. The old world is to be destroyed. Have you not heard the names of Trimurti Brahma, Vishnu and Shankar? Establishment takes place through Brahma. All of these are Brahma Kumars and Kumaris. Brahma does not do this alone. Together with Prajapita, there are definitely also the Brahma Kumars and Kumaris. This one’s Father who teaches him would also surely be here. This one (Brahma) cannot be called the Ocean of Knowledge. They show Brahma with scriptures in his hands. However, it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who enters him and tells you the essence of all the Vedas and scriptures through him. Brahma doesn’t tell you the essence of all the scriptures. Where would he learn that from? There definitely has to be his Father and Guru. Prajapita is definitely a human being and he has to exist here. He is the one who creates people. He cannot be called the Creator, the Ocean of Knowledge or knowledgefull. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He comes and teaches you through Prajapita Brahma. This is called the urn of knowledge. Everything depends on your dharna. Whether you insure yourselves or not is up to you. Baba insures everything very well. He is the Insurance Magnate on the path of devotion as well as on the path of knowledge. All souls remember the Father on the path of devotion and say: Baba, come and liberate us from sorrow. The Father gives you the inheritance. He either sends you to the land of peace or the land of happiness. Those who are to receive the inheritance of peace will claim that same inheritance of peace every cycle. You are now making effort to claim your inheritance of happiness. For that, you have to study and also teach others. Just as the Father is the sweetest of all, in the same way, His creation is also the sweetest of all. Heaven is so sweet! Everyone speaks of heaven. When someone dies, they say that he has gone to heaven. So, he was definitely in hell and has now gone to heaven. Even though that soul doesn’t go there, they still say it. You should write that he definitely was in hell. This is hell, so why do they still try to invoke that soul here and feed him the things of here? They invoke the departed spirits. To invite a soul is to invite a departed spirit. You then invite the Father of all the departed spirits. The Father of all souls sits here and teaches you. You are such an incognito army, the Shiv Shaktis. Shiva is incorporeal. You Shaktis are His children. Power is received by the soul. People show their physical power whereas you show your spiritual power. Yours is the power of yoga. When you souls have yoga, you become pure. The soul develops strength. Out of all of you, Mama’s sword of knowledge was the sharpest. This is not a question of a physical sword. A soul understands when he has very good power to blow the conch shell of knowledge. “I can blow the conch shell.” Some say: I am unable to blow the conch shell. The Father says: I have deep love for those who blow the conch shell of knowledge. You would give My introduction with knowledge, would you not? “Remember the unlimited Father.” This too is giving knowledge, is it not? In remembering the Father, you don’t have to say anything in words. Internally, you have to understand that the Father is giving you knowledge. The Father says: You have to return home. Remember Me and your sins will be absolved. God speaks: Manmanabhav! So, He would definitely be incorporeal. How could a corporeal one say: Remember me? Only the Incorporeal says: O souls, remember Me. I am your Father. Remember Me, and your final thoughts will lead you to your destination. Krishna cannot say this because he is a human being. You souls say through your bodies: O embodied soul, remember your Father. The Father also says to souls: Manmanabhav! You souls have to come to Me. You have to become soul conscious. Practise very well: I, the soul, am the one who is making this body function. I now have to return home to the Father. The Father says: While walking and moving around, whether sitting or standing, remember Me. Those who spread peacelessness are destroying their own status. You have to become very sweet. There is also the song: How sweet and lovely Shiva, the Innocent Lord, is! You, His children, are also innocent. You show the firstclass path: Remember the Father and you will become the masters of heaven. No one else can make such a deal with you. So, you should remember the Father a great deal. They remember the One from whom they receive so much happiness and they say: O Purifier, come! Souls have become impure and, together with that, their bodies too have become impure. Both souls and bodies have become impure. Those people say that souls are immune to the effect of action and cannot become impure, but that is not so. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, never has alloy mixed in Him. All the rest definitely have to have alloy mixed in them. Each one of you has to go through the stages of sato, rajo and tamo. You should imbibe all of these points and become very sweet. It shouldn’t be that you have enmity with some and friendship with others. To be body conscious and take personal service from someone while you just sit there is totally wrong. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn knowledge, become trikaldarshi and make others trikaldarshi. Become a stick for the blind and awaken everyone from the sleep of ignorance.
  2. Insure everything of yours for 21 births. Together with that, also blow the conch shell of knowledge.
Blessing: May you happily settle your karmic accounts as a carefree soul instead of becoming upset.
When someone says something, do not instantly get upset. First of all, have it clarified or verified as to what intention it was said with. If it was not your fault, then become carefree. Let it be in your awareness that everything with Brahmin souls has to be settled here. In order to be saved from the land of Dharamraj, Brahmins become instruments somewhere or other. Therefore, do not be afraid, but happily settle everything. There is only going to be progress through this.
Slogan: Constantly to maintain the awareness “The Father is my world” is to have easy yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 October 2018

To Read Murli 24 October 2018 :- Click Here
25-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह पढ़ाई बहुत सस्ती और सहज है, पद का आधार गरीबी वा साहूकारी पर नहीं, पढ़ाई पर है, इसलिए पढ़ाई पर पूरा ध्यान दो”
प्रश्नः- ज्ञानी तू आत्मा का पहला लक्षण कौन सा है?
उत्तर:- वह सभी के साथ अति मीठा व्यवहार करेंगे। किसी से दोस्ती, किसी से दुश्मनी रखना यह ज्ञानी तू आत्मा का लक्षण नहीं। बाप की श्रीमत है – बच्चे, अति मीठा बनो। प्रैक्टिस करो – मैं आत्मा इस शरीर को चला रही हूँ। अब मुझे घर जाना है।
गीत:- तू प्यार का सागर है …….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने किसकी महिमा सुनी? निराकार बेहद के बाप की। वह ज्ञान का सागर ऊंच ते ऊंच है, उनको ही ऊंच ते ऊंच बाप कहा जाता है। परम शिक्षक अर्थात् ज्ञान का सागर भी कहा जाता है। अभी तुम समझते हो यह महिमा हमारे बाप की है, जिस द्वारा हम बच्चों की भी वही अवस्था होनी है। वह बड़े ते बड़ा बाप है, कोई साधू-सन्यासी तो नहीं है। यह तो बेहद का बाप निराकार परमपिता परमात्मा है। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि यह हमारा बेहद का मात-पिता, पति आदि सब है फिर भी वह नशा स्थाई नहीं रहता। घड़ी-घड़ी बच्चों को भूल जाता है। यह तो ऊंच ते ऊंच और अति मीठे ते मीठा बाप है, जिसको सभी आधाकल्प याद करते हैं। लक्ष्मी-नारायण को इतना याद नहीं करेंगे। भक्तों का भगवान् एक ही निराकार है, उनको ही सब याद करते हैं। भल कोई लक्ष्मी-नारायण को, कोई गणेश आदि को मानने वाले होंगे फिर भी मुख से ‘हे भगवान्’ शब्द ही निकलेगा। ‘हे परमात्मा’ अक्षर जरूर सबके मुख से निकलता है। आत्मा उनको याद करती है। जिस्मानी भक्त जिस्मानी चीज को याद करते हैं तो भी आत्मा इतनी पिताव्रता है जो अपने बाप को जरूर याद करती है। दु:ख में झट आवाज निकलता है – हे परमात्मा। यह जरूर समझते हैं कि वह परमात्मा निराकार है परन्तु उनका महत्व नहीं जानते। अभी तुम महत्व को जानते हो कि वह तो अब हमारे सम्मुख आये हैं। वह है स्वर्ग का रचयिता। हमको सम्मुख पढ़ा रहे हैं। यह एक ही पढ़ाई है। वह जिस्मानी पढ़ाईयां तो भिन्न-भिन्न प्रकार की होती है। कोई का मन पढ़ाई में नहीं लगता है तो छोड़ भी देते हैं। यहाँ इस पढ़ाई में पैसे आदि की कोई बात नहीं। वह गवर्मेन्ट भी गरीबों को फ्री पढ़ाती है। यहाँ तो यह है ही मुफ्त में पढ़ाई, फीस कुछ भी नहीं। बाप को गरीब निवाज़ कहा जाता है। गरीब ही पढ़ते हैं। यह है बहुत सहज और सस्ती पढ़ाई। मनुष्य अपने को इनश्योर भी करते हैं। यहाँ भी तुम इनश्योर करते हो। कहते हो बाबा आप हमें स्वर्ग में 21 जन्मों का एवज़ा देना। भक्ति मार्ग में ऐसे नहीं कहते कि – हे परमपिता परमात्मा, हमको 21 जन्म लिए वर्सा दो। यह तुम अभी जानते हो हम डायरेक्ट अपने को इनश्योर करते हैं। यह तो हमेशा कहते हैं फल देने वाला ईश्वर है। सबको ईश्वर ही देते हैं। भल कोई भी साधू-सन्त अथवा रिद्धि-सिद्धि वाला हो, देने वाला सबको ईश्वर है। आत्मा कहेगी देने वाला ईश्वर है। दान-पुण्य आदि करते हैं फिर भी उसका फल देने वाला ईश्वर ही है।

इस पढ़ाई में कोई खर्चा नहीं है। बाबा ने समझाया है गरीब का भी इतना ही इनश्योर होता है। साहूकार लाख करेगा तो उनको लाख का मिलेगा। गरीब एक रूपया करेंगे, साहूकार 5 हजार करे तो भी एवजा दोनों को इक्वल (बराबर) मिलना है। गरीबों के लिए बहुत सहज है, कोई फीस नहीं लगती। गरीब अथवा साहूकार दोनों बाप से वर्सा पाने के हकदार हैं। सारा मदार पढ़ाई पर है। गरीब अच्छा पढ़ते हैं तो उनका पद साहूकार से भी ऊंच हो जाता है। पढ़ाई ही कमाई है। बड़ी सस्ती और सहज पढ़ाई है। सिर्फ इस मनुष्य सृष्टि झाड़ के आदि, मध्य, अन्त को जानना है। जिसको कोई भी मनुष्य मात्र जानता नहीं है। त्रिकालदर्शी कोई हो नहीं सकता। सब कह देते बेअन्त है। समझते हैं मनुष्य सृष्टि का बीज परमात्मा है। यह उल्टा झाड़ है। फिर भी कह देते हम यथार्थ रीति नहीं जानते हैं। बरोबर यथार्थ तो बाप ही बतायेंगे, जो नॉलेजफुल है। सारा मदार तुम बच्चों की पढ़ाई पर है। अभी तुम नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हो। तुम मास्टर ज्ञान सागर हो। सब एक जैसे तो नहीं हैं। कोई बड़ी नदी, कोई छोटी नदी है। पढ़ते सब अपने-अपने पुरुषार्थ अनुसार हैं। तुम बच्चे जानते हो यह बेहद का बाप है। उनका बनकर उनकी श्रीमत पर चलना है। कोई के लिए कहा जाता है यह बिचारा परवश है। माया के वश हो उल्टी मत चलाते हैं। श्रीमत भगवानुवाच है ना। जिससे श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ देवी-देवता बनना है। जब पहले निश्चय हो जाए तब फिर शिवबाबा से मिलना है। बाबा समझ जाते हैं इनको यथार्थ निश्चय नहीं है। आत्माओं का बाप एक है, यह तो समझते हैं परन्तु वह इनमें आकर वर्सा दे रहा है – यह निश्चय बैठना बड़ा मुश्किल है। जब यह बुद्धि में बैठे और लिखकर दे तब बाबा के पास लिखत ले आनी चाहिए। समझेंगे यह तो बरोबर ठीक है। इतना समय जो समझते आये सो रांग है। ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है वह तो बेहद का बाप है। बरोबर भारत को कल्प-कल्प संगम पर बेहद के बाप द्वारा वर्सा मिलता है। संगम पर और इसी समय ही मिला था, अब फिर मिल रहा है – यह लिखाना है। बरोबर बाप संगम पर ही आते हैं, आकर बी.के. द्वारा स्वर्ग की रचना रचते हैं। जब लिखकर दे तब उस पर समझा सकेंगे – तुम किसके पास आये हो, क्या लेने आये हो?

ईश्वर का रूप तो निराकार है। ईश्वर का रूप न जानने कारण ब्रह्म तत्व कह देते हैं। बच्चों को समझाया है – वह तो बिन्दी है। यह बात और किसकी बुद्धि में नहीं बैठेगी कि परमात्मा एक बिन्दी है। आत्मा के लिए कहते हैं – चमकता है सितारा भ्रकुटी के बीच में। वह छोटी-सी चीज़ है। तो विचार करना है – पार्टधारी कौन है? इतनी छोटी आत्मा में कितना अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है! इन बातों में जब कोई डीप जाये तब उनको समझाना है। तुम्हारी आत्मा कहती है हमने 84 जन्म लिए हैं, वह सारा पार्ट छोटी-सी बिन्दी रूप आत्मा में मर्ज है, जो फिर इमर्ज होता है। इस बात से मनुष्य वन्डर खायेंगे। यह बात तो कोई समझते नहीं। 84 जन्म हमारे रिपीट होते हैं। यह बना बनाया ड्रामा है। आत्मा में कैसे पार्ट नूँधा हुआ है – सुनकर मनुष्य वन्डर खायेंगे। बरोबर मैं आत्मा कहती हूँ, हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। यह हमारा पार्ट नूँधा हुआ है, जो ड्रामा अनुसार रिपीट होता है। यह बातें कमजोर बुद्धि वाले कभी धारण कर न सकें। यह सिमरण करना है – हम 84 जन्म ले पार्ट बजाता हूँ, शरीर धारण करता हूँ। जब यह सिमरण चलता रहे तब कहें यह पूरा त्रिकालदर्शी है और दूसरे को भी त्रिकालदर्शी बनाने का पुरुषार्थ कर रहे हैं। समझाने की भी बच्चों में हिम्मत चाहिए। अन्धों की लाठी बन नींद से सुजाग करना है।

जाग सजनियां, अब नई दुनिया स्थापन होती है। पुरानी दुनिया का विनाश हो रहा है। तुमने त्रिमूर्ति ब्रह्मा-विष्णु-शंकर नाम नहीं सुना है? ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है। यह सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं ना। अकेले ब्रह्मा तो नहीं करेंगे। प्रजापिता के साथ जरूर ब्रह्माकुमार-कुमारियां होंगे। इनका बाप भी जरूर होगा, जो इनको सिखलाने वाला है। इन (ब्रह्मा) को तो ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दिखाते हैं। परन्तु परमपिता परमात्मा इनमें आकर इन द्वारा सभी वेद-शास्त्रों का सार बताते हैं। ब्रह्मा शास्त्रों का सार नहीं सुनाते, वह कहाँ से सीखे? उनका कोई भी बाप वा गुरू होगा ना। प्रजापिता तो जरूर मनुष्य होगा और यहाँ ही होगा, वह ठहरा प्रजा को रचने वाला। उनको क्रियेटर, ज्ञान सागर, नॉलेजफुल नहीं कह सकते। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा ही है। वह आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा पढ़ाते हैं। इसको ज्ञान का कलष कहा जाता है। यह सारा मदार धारणा पर है। इनश्योर करो, न करो, यह तुम्हारे ऊपर है। बाबा तो बहुत अच्छी रीति इनश्योर करते हैं। इनश्योरेन्स मैगनेट है, भक्ति मार्ग में भी, तो ज्ञान मार्ग में भी। बाप को सब आत्मायें भक्ति मार्ग में याद करती हैं कि बाबा आकर हमको दु:ख से छुड़ाओ। बाप वर्सा देंगे – या तो शान्तिधाम, या तो सुखधाम भेज देंगे। जिनको शान्ति का वर्सा मिलना है तो कल्प-कल्प वही शान्ति का वर्सा लेंगे। तुम अब पुरुषार्थ कर रहे हो सुख का वर्सा लेने के लिए। इसमें पढ़ना है और फिर पढ़ाना है। जैसे बाप मीठे ते मीठा है वैसे उनकी रचना भी मीठे से मीठी है। स्वर्ग कितना मीठा है! स्वर्ग नाम तो सब मुख से लेते रहते हैं। कोई भी मरता है तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। तो जरूर नर्क में था, अब स्वर्ग में गया। जाता नहीं है तो भी कहते हैं। तुमको लिखना चाहिए जरूर हेल में था ना। यह हेल है फिर उनको यहाँ मंगाने की, खिलाने की क्यों कोशिश करते हैं। पित्र बुलाते हैं ना। आत्मा को बुलाना यह है पित्र को बुलाना। तुम फिर सभी पित्रों के बाप को बुलाते हो। सभी आत्माओं का बाप बैठ तुमको पढ़ाते हैं। तुम कितनी गुप्त सेना हो, शिवशक्तियां। शिव तो निराकार है ना। तुम शक्तियां हो उनके बच्चे। शक्ति आत्मा में आती है। मनुष्य जिस्मानी शक्ति दिखलाते हैं, तुम रूहानी शक्ति दिखलाते हो। तुम्हारा है योग-बल। योग रखने से तुम्हारी आत्मा पवित्र होती है। आत्मा में जौहर आता है। तुम्हारे में मम्मा की ज्ञान तलवार सबसे तीखी है। यह कोई स्थूल कटारी वा तलवार की बात नहीं है।

आत्मा को समझ है कि मेरे में ज्ञान शंख ध्वनि करने की अच्छी ताकत है। हम शंखध्वनि कर सकते हैं। कोई कहते हैं – मैं शंखध्वनि नहीं कर सकती हूँ। बाप कहते हैं ज्ञान की शंखध्वनि करने वाले मुझे अति प्रिय हैं। मेरा परिचय भी ज्ञान से देंगे ना। बेहद के बाप को याद करो, यह भी ज्ञान दिया ना। बाप को याद करना है, इसमें मुख से कुछ बोलना नहीं है, अन्दर में समझना है – बाप हमको नॉलेज दे रहे हैं। बाप कहते हैं तुमको वापिस चलना है। मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। भगवानुवाच – मनमनाभव। तो जरूर वह निराकार होगा ना। साकार कैसे कहेंगे मुझे याद करो? निराकार ही कहते हैं – हे आत्मायें मुझे याद करो, मैं तुम्हारा बाप हूँ। मुझे याद करेंगे तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। कृष्ण तो ऐसे कह न सके। वह तो मनुष्य है ना। तुम आत्मायें इस शरीर द्वारा कहती हो कि जीव की आत्मा अपने बाप को याद करो। बाप भी आत्माओं को कहते हैं मनमनाभव। तुम आत्माओं को हमारे पास ही आना है। देही-अभिमानी होना है। अच्छी तरह से प्रैक्टिस करनी है मैं आत्मा इस शरीर को चलाने वाली हूँ। अब मुझे वापिस बाप के पास जाना है। बाप कहते हैं चलते-फिरते, उठते-बैठते मुझे याद करो। जो अशान्ति फैलाते हैं वह अपना पद भ्रष्ट करते हैं। इसमें तो बहुत-बहुत मीठा बनना है। गीत भी है ना – कितना मीठा, कितना प्यारा, शिव भोला भगवान्। तुम भी उनके बच्चे भोले हो। फर्स्टक्लास रास्ता बताते हो कि बाप को याद करो तो स्वर्ग के मालिक बनोगे। और कोई ऐसे सौदा दे न सके। तो बाप को बहुत याद करना चाहिए, जिनसे इतना सुख मिलता है उनको ही याद करते हैं पतित-पावन आओ। आत्मायें पतित बनी हैं, उनके साथ शरीर भी पतित बना है। आत्मा और शरीर दोनों पतित बने हैं। वह लोग तो कह देते आत्मा निर्लेप है, पतित बन नहीं सकती। परन्तु नहीं, एक परमपिता परमात्मा में ही कभी खाद नहीं पड़ती, बाकी तो सबमें खाद पड़नी ही है। हर एक को सतो, रजो, तमो में आना ही है। यह सब प्वाइंट धारण कर बहुत मीठा बनना चाहिए। ऐसे नहीं कि कोई से दुश्मनी, कोई से दोस्ती। देह-अभिमान में आकर यहाँ ही बैठ कोई से सर्विस लेना बिल्कुल रांग है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान का सिमरण कर त्रिकालदर्शी बनना और बनाना है। अंधों की लाठी बन उन्हें अज्ञान नींद से सुजाग करना है।

2) 21 जन्मों के लिए अपना सब कुछ इन्श्योर करना है। साथ-साथ ज्ञान की शंखध्वनि करनी है।

वरदान:- अपसेट होने के बजाए हिसाब-किताब को खुशी-खुशी से चुक्तू करने वाले निश्चिंत आत्मा भव
यदि कभी कोई बात कहता है तो उसमें फौरन अपसेट नहीं हो जाओ, पहले स्पष्ट करो या वेरीफाय कराओ कि किस भाव से कहा है, अगर आपकी गलती नहीं है तो निश्चिंत हो जाओ। यह बात स्मृति में रहे कि ब्राह्मण आत्माओं द्वारा यहाँ ही सब हिसाब-किताब चुक्तू होने हैं। धर्मराजपुरी से बचने के लिए ब्राह्मण कहाँ न कहाँ निमित्त बन जाते हैं इसलिए घबराओ नहीं, खुशी-खुशी से चुक्तू करो। इसमें तरक्की (उन्नति) ही होनी है।
स्लोगन:- “बाप ही संसार है” सदा इस स्मृति में रहना – यही सहजयोग है।
Font Resize