daily murli 25 december

TODAY MURLI 25 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 December 2020

25/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the Father for as long as you live. It is by having this remembrance that your lifespan will increase. The essence of this study is remembrance.
Question: Why is the supersensuous joy of you children remembered?
Answer: Because you constantly celebrate happily in remembrance of Baba. It is now Christmas for you all the time. God is teaching you; what happiness can be greater than this? This is happiness for every day and this is why there is praise of your supersensuous joy.
Song: Show the path to the blind, dear God! Audio Player

Om shanti. The spiritual Father, who is the Bestower of the third eye of knowledge, is explaining to the spiritual children. No one except the Father can give the third eye of knowledge. Each of you children has now received a third eye of knowledge. The Father has explained that devotion is the path of darkness. Because there is no light at night, people stumble around in the dark. It is sung: The day of Brahma and the night of Brahma. In the golden age, you will not say that you want to be shown the path, because you are being shown the path now. The Father comes and shows you the way to the land of liberation and the land of liberation-in-life. You are now making effort. You now know that there is little time left. The world is going to change. A song has been created about how the world is going to change. However, poor human beings do not know when, how or who changes the world, as they do not have the third eye of knowledge. You children have now received the third eye of knowledge with which you know the beginning, middle and end of the world cycle. This is the saccharine of knowledge, which you have in your intellects. Just as a little saccharine is very sweet, in the same way, the word of knowledge, “Manmanabhav”, is the sweetest of all; simply remember the Father. The Father comes and shows you the path. The path to where does He show you? To the lands of peace and happiness. So, you children are very happy. The world does not know when happiness is celebrated. Happiness will be celebrated in the new world. It is a common fact that there is no happiness in the old world. People in the old world are crying out in distress, because they are tamopradhan. How can there be happiness in the tamopradhan world? No one has the knowledge of the golden age and that is why the poor, helpless people continue to celebrate here. Just see how much they celebrate Christmas in happiness. Baba says: If you want to ask anything about happiness, ask the gopes and gopis, My children, because the Father is showing you a very easy path. While living at home with your families and carrying on with your businesses, remain like a lotus flower and remember Me like that lover and beloved remember each other even while doing their work. They also receive visions, just like “Laila and Majnu” and “Heer Ranjha” did, but they did not love one another for vice. Their love is remembered. They fell in love with one another. However, it is not the same here. Here, you have been lovers of that Beloved for many births. That Beloved is not your lover. You called Him to come here, saying: O God, come and show the path to the blind! You have been calling out to Him for half a cycle. People call out to Him more when their sorrow increases. There are those who remember Him more during times of sorrow. Look, there are now so many who remember Him! It is sung: Everyone remembers Him at a time of sorrow… With time, they become more and more tamopradhan. So, you are ascending, whereas they are descending even more, because everything will continue to become more and more tamopradhan until destruction takes place. Day by day, Maya is also becoming more and more tamopradhan. At this time, the Father is the Almighty Authority and Maya too is an almighty authority. She too is very powerful. At this time, you children are the mouth-born progeny of Brahma and the decoration of the Brahmin clan. Your clan is the most elevated and it is said to be the highest clan of all. At this time your life is invaluable. This is why you should take care of this life (body). Because of the five vices, the lifespan of people’s bodies also continues to decrease. Therefore, Baba says: Renounce the five vices and stay in yoga and your lifespan will increase. Your lifespan will gradually continue to increase and it will be 150 years in the future. It cannot be that at present. Therefore, the Father says: Take a lot of care of your body. Otherwise, it is said that the body is of no use, just a puppet of clay. You children now understand that you have to remember Baba for as long as you live. Why does a soul remember Baba ? For the inheritance. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember the Father and imbibe divine virtues and you will become like that. Therefore, you children should study this study very well. Do not be lazy in your studyies, otherwise you will fail; you will attain a very low status. The main thing in this study is the essence, which is: Remember the Father. Whenever any people come to an exhibition or to your centre, first of all, explain to them that they should remember Baba, because He is the Highest on High. Only the Highest on High should be remembered. Do not remember anyone who is lower than Him. It is said: God is the Highest on High. It is God who establishes the new world. The Father says: Look, I establish the new world. This is why, if you remember Me, your sins will be cut away. Remember this very well because the Father is the Purifier. He says: When you call Me “the Purifier”, you are tamopradhan and very impure. Now become pure! The Father comes and explains to you children: Your days of happiness are about to come; your days of sorrow have now come to an end. This is why people call out to Him: O Remover of Sorrow and Bestower of Happiness! You know very well that there is nothing but happiness in the golden age. The Father tells you children: All of you must continue to remember the land of peace and the land of happiness. This is the confluence age and the Boatman is taking you across. There is no question of a boatman or a boat in this. They simply sing the praise: Take my boat across! Now, it is not only one person’s boat that has to be taken across, is it? It is the boat of the whole world that has to be taken across. This whole world is like a big steamer that is being taken across. So you children should celebrate with a lot of happiness, because there is constant happiness for you; it is constantly Christmas. Since you children have met the Father, it is constantly Christmas for you. This is why your supersensuous joy is remembered. Look, why is this one constantly happy? Oh! He has found the unlimited Father! That One is teaching us. So you should have this happiness every day. It is a wonder that the unlimited Father is teaching you. Had any of you heard this before? “God speaks” is mentioned in the Gita, that He teaches Raj Yoga. Just as those people teach the yoga to become a barrister or a surgeon, I teach you spiritual children Raj Yoga. When you come here, you truly do come to study Raj Yoga. There is no need to be confused. So study Raj Yoga and complete this course. Do not run away. You have to study and also imbibe this very well. The Teacher teaches you in order for you to imbibe it. Each one’s intellect is of a different level. For some it is the highest, for some it is of the middle level and for others it is the lowest. So, ask yourself: Am I of the highest level, the middle level or the lowest level? You should be able to recognise yourself as to whether you are worthy enough to pass the highest examination of all and claim a high status. Am I doing service? The Father says: Children, become serviceableFollow Baba, because I am also doing service. I have taken this chariot because I too have come to do service. So I do it every day. The chariot is very strong and good and he constantly offers his service. BapDada is in this one’s chariot all the time. Even if this one’s body is unwell, I am still sitting in it. So I sit in this one and write. If this one cannot say anything through his mouth, I can still write it. The murli is never missed. While this one is able to sit and write, I can also conduct the murli, write it and send it to the children, because I am serviceable. Therefore, the Father comes and explains: Consider yourselves to be souls, let your intellects have faith and engage yourselves in service. It is the Father’s service: on Godfatherly service! Those people write, “On His Majestys Service”. So, what would you say? This service is even higher than that of that Majesty, because He makes you into Majesties(emperors). You can understand that you truly are becoming the masters of the world. Those of you children who make a lot of effort are called mahavirs. So you have to check which ones are the mahavirs who follow Baba’s directions. The Father explains: Children, consider yourselves to be souls and see each other as brothers. The Father considers Himself to be the Father of the brothers and only looks at the brothers. He will not look at everyone. You know that you cannot hear or speak without a body. You know that I too have entered a body. I have taken this body on loan. Everyone has a body; it is through your bodies that you souls here are studying. Therefore, you souls should now understand that Baba is teaching you. Where is Baba’s seat? On the immortal throne. Baba has explained that each soul is an immortal image that is never destroyed; it is never burnt, finished or drowned. It can neither be smaller nor larger; bodies can be big or small. The throne of all the souls of all human beings in this world is the forehead. The bodies are all different. The immortal throne of some is that of a man, of some it is of a woman and of some it is that of a child. So, whenever you speak to anyone, consider yourself to be a soul talking to your brother. I am giving the Father’s message: Remember Shiv Baba and the rust on the soul will be removed. When gold has alloy mixed into it, its value is reduced and so your value too has reduced. You have now become completely valueless. This is also known as becoming bankruptBharat used to beso wealthy; now it continuesto incur debts.Everyone’s money will be wiped out in destruction. Those who lend and those who borrow will all be wiped out and only those who have taken the imperishable jewels of knowledge will come and claim their fortune. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Father and become serviceable, the same as Baba. Check yourself to see whether you have become worthy enough to pass the highest-on-high examination and claim a high status.
  2. Follow Baba’s directions and become a mahavir. Just as Baba sees and teaches souls, in the same way, look at everyone as souls, as brothers, while talking to them.
Blessing: May you be greatly fortunate with a healthy body, a happy mind and the wealth of knowledge.
At the confluence age, by constantly remaining stable in your original stage, the suffering of karma changes from a crucifix to a thorn, and any illness (rog) of the body changes into yoga and so you are always healthy. Because of being stable in “Manmanabhav” your mine of happiness is constantly full and this is why you have a happy mind and your wealth of knowledge is the most elevated wealth of all. Matter naturally becomes a servant of those who have the wealth of knowledge. You have all relationships with One, you have connections with holy swans and so you automatically have the blessing of being greatly fortunate.
Slogan: The balance of remembrance and service is a double lock.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – जब तक जीना है बाप को याद करना है, याद से ही आयु बढ़ेगी, पढ़ाई का तन्त (सार) ही है याद”
प्रश्नः- तुम बच्चों का अतीन्द्रिय सुख गाया हुआ है, क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम सदा ही बाबा की याद में खुशियाँ मनाते हो, अभी तुम्हारी सदा ही क्रिसमस है। तुम्हें भगवान पढ़ाते हैं, इससे बड़ी खुशी और क्या होगी, यह रोज़ की खुशी है इसलिए तुम्हारा ही अतीन्द्रिय सुख गाया हुआ है।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ प्रभू……..

ओम् शान्ति। ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं। ज्ञान का तीसरा नेत्र सिवाए बाप के कोई दे नहीं सकता। तो अभी बच्चों को ज्ञान का नेत्र मिला है। अभी बाप ने समझाया है कि भक्ति मार्ग है ही अन्धियारा मार्ग। जैसे रात में सोझरा नहीं होता है तो मनुष्य धक्के खाते हैं। गाया भी जाता है ब्रह्मा की रात, ब्रह्मा का दिन। सतयुग में यह नहीं कहेंगे कि हमको राह बताओ क्योंकि अभी तुमको राह मिल रही है। बाप आकरके मुक्तिधाम और जीवनमुक्ति धाम की राह बता रहे हैं। अभी तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। अभी जानते हो कि बाकी थोड़ा समय है, दुनिया तो बदलने वाली है। यह तो गीत भी बने हुए हैं दुनिया बदलने वाली है…. परन्तु मनुष्य बिचारे जानते नहीं हैं कि दुनिया कब बदलनी है, कैसे बदलनी है, कौन बदलाते हैं क्योंकि तीसरा नेत्र तो ज्ञान का है नहीं। अभी तुम बच्चों को यह तीसरा नेत्र मिला है जिससे तुम इस सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। और यही तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान की सैक्रीन है। जैसे थोड़ी-सी सैक्रीन बहुत मीठी होती है वैसे यह ज्ञान के दो अक्षर ‘मनमनाभव….’ यही सबसे मीठी चीज़ है, बस बाप को याद करो।

बाप आते हैं और आकरके रास्ता बताते हैं। कहाँ का रास्ता बताते हैं? शान्तिधाम और सुखधाम का। तो बच्चों को खुशी होती है। दुनिया नहीं जानती है कि खुशियाँ कब मनाई जाती हैं? खुशियाँ तो नई दुनिया में मनाई जायेंगी ना। यह तो बिल्कुल कॉमन बात है कि पुरानी दुनिया में खुशियाँ कहाँ से आई? पुरानी दुनिया में मनुष्य त्राहि-त्राहि कर रहे हैं क्योंकि तमोप्रधान हैं। तमोप्रधान दुनिया में खुशियाँ कहाँ से आई? सतयुग का ज्ञान तो कोई में भी नहीं है, इसलिए बिचारे यहाँ खुशियां मनाते रहते हैं। देखो, क्रिसमस की खुशियां भी कितनी मनाते हैं। बाबा तो कहते हैं कि अगर खुशियों की बात पूछनी हो तो गोप-गोपियों से (मेरे बच्चों से) पूछो क्योंकि बाप बहुत सहज रास्ता बता रहे हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए, अपने धन्धेधोरी का कर्तव्य करते हुए कमल फूल के समान रहो और मुझे याद करो। जैसे आशिक-माशूक होते हैं ना, वह भी धन्धाधोरी करते एक-दो को याद करते रहते हैं। उनको साक्षात्कार भी होते हैं जैसे लैला-मजनू, हीरा-रांझा, वो विकार के लिए एक-दो के आशिक नहीं होते हैं। उनका प्यार गाया हुआ है। उसमें एक-दो के आशिक होते हैं। लेकिन यहाँ वह बात नहीं है। यहाँ तो तुम जन्म-जन्मान्तर उस माशूक के आशिक ही रहे हो। वह माशूक तुम्हारा आशिक नहीं है। तुम उनको बुलाते हो यहाँ आने के लिए, हे भगवान नयन हीन को आकरके राह बताओ। तुमने आधाकल्प बुलाया है। जब दु:ख ज्यादा होता है तो जास्ती बुलाते हैं। जास्ती दु:ख में जास्ती सिमरण करने वाले भी होते हैं। देखो, अभी कितने याद करने वाले ढेर के ढेर हैं। गाया हुआ है ना – दु:ख में सिमरण सब करें…… जितना देरी होती जाती है, उतना तमोप्रधान ज्यादा होते जाते हैं। तो तुम चढ़ रहे हो, वह और ही उतर रहे हैं क्योंकि जब तक विनाश हो तब तक तमोप्रधानता वृद्धि को पाती रहती है। दिन-प्रतिदिन माया भी तमोप्रधान, वृद्धि को पाती जाती है। इस समय बाप भी सर्वशक्तिमान् है, तो माया भी फिर सर्वशक्तिमान् इस समय में है। वह भी जबरदस्त है।

तुम बच्चे इस समय ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण हो। तुम्हारा है सर्वोत्तम कुल, इसको कहा जाता है ऊंच ते ऊंच कुल। इस समय तुम्हारा यह जीवन अमूल्य है इसलिए इस जीवन की (शरीर की) सम्भाल भी करनी चाहिए क्योंकि पांच विकारों के कारण शरीर की भी आयु तो कमती होती जाती है ना। तो बाबा कहते हैं इस समय पांच विकारों को छोड़कर योग में रहो तो आयु बढ़ती रहेगी। आयु बढ़ते-बढ़ते भविष्य में तुम्हारी आयु 150 वर्ष की हो जायेगी। अभी नहीं इसलिए बाप कहते हैं कि इस शरीर की भी बहुत सम्भाल रखनी चाहिए। नहीं तो कहते हैं यह शरीर काम का नहीं है, मिट्टी का पुतला है। अभी तुम बच्चों को समझ मिलती है कि जब तक जीना है बाबा को याद करना है। आत्मा बाबा को याद करती है – क्यों? वर्से के लिए। बाप कहते हैं तुम अपने को आत्मा समझकर बाप को याद करो और दैवी गुण धारण करो तो तुम फिर ऐसे बन जायेंगे। तो बच्चों को पढ़ाई अच्छी तरह पढ़नी चाहिए। पढ़ाई में सुस्ती आदि नहीं करनी चाहिए नहीं तो नापास हो जायेंगे। बहुत कम पद पायेंगे। पढ़ाई में भी मुख्य बात यह है जिसको तन्त कहा जाता है कि बाप को याद करो। जब प्रदर्शनी में या सेन्टर पर कोई भी आते हैं तो उनको पहले-पहले यह समझाओ कि बाबा को याद करो क्योंकि वह ऊंच ते ऊंच है। तो ऊंचे ते ऊंचे को ही याद करना चाहिए, उनसे कम को थोड़ेही याद करना चाहिए। कहते हैं ऊंचे से ऊंचा भगवान। भगवान ही तो नई दुनिया की स्थापना करने वाले हैं। देखो, बाप भी कहते हैं नई दुनिया की स्थापना मैं करता हूँ इसलिए तुम मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायें। तो यह पक्का याद कर लो क्योंकि बाप पतित-पावन है ना। वह यही कहते हैं कि जब तुम मुझे पतित-पावन कहते हो तो तुम तमोप्रधान हो, बहुत पतित हो, अभी तुम पावन बनो।

बाप आकरके बच्चों को समझाते हैं कि तुम्हारे अभी सुख के दिन आने वाले हैं, दु:ख के दिन पूरे हुए हैं, पुकारते भी हो – हे दु:ख हर्ता, सुख दाता। तो जानते तो हो ना कि बरोबर सतयुग में सब सुखी ही सुखी हैं। तो बाप बच्चों को कहते हैं कि सभी शान्तिधाम और सुखधाम को याद करते रहो। यह है संगमयुग, खिवैया तुमको पार ले जाते हैं। बाकी इसमें कोई खिवैया या नईया की बात है नहीं। यह तो महिमा कर देते हैं कि नईया को पार लगाओ। अब एक की नईया तो पार नहीं लगनी है ना। सारे दुनिया की नईया को पार लगाना है। यह सारी दुनिया जैसे एक बहुत बड़ा जहाज है इनको पार लगाते हैं। तो तुम बच्चों को बहुत खुशी मनानी चाहिए क्योंकि तुम्हारे लिए सदैव खुशी है, सदैव क्रिसमस है। जब से तुम बच्चों को बाप मिला है तुम्हारी क्रिसमस सदैव है इसलिए अतीन्द्रिय सुख गाया हुआ है। देखो, यह सदैव खुश रहते हैं, क्यों? अरे बेहद का बाप मिला है! वह हमको पढ़ा रहे हैं। तो यह रोज़ की खुशी होनी चाहिए ना। बेहद का बाप पढ़ा रहे हैं वाह! कभी कोई ने सुना? गीता में भी भगवानुवाच है कि मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ, जैसे वह लोग बैरिस्टरी योग, सर्जनरी योग सिखलाते हैं, मैं तुम रूहानी बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ। तुम यहाँ आते हो तो बरोबर राजयोग सीखने आते हो ना। मूंझने की तो दरकार नहीं। तो राजयोग सीखकर पूरा करना चाहिए ना। भागन्ती तो नहीं होना चाहिए। पढ़ना भी है तो धारणा भी अच्छी करनी है। टीचर पढ़ाते हैं धारणा करने के लिए।

हर एक की अपनी-अपनी बुद्धि होती है – किसकी उत्तम, किसकी मध्यम, किसकी कनिष्ट। तो अपने से पूछना चाहिए कि मैं उत्तम हूँ, मध्यम हूँ या कनिष्ट हूँ? अपने को आपेही परखना चाहिए कि मैं ऐसे ऊंचे ते ऊंचा इम्तहान पास करके ऊंच पद पाने के लायक हूँ? मैं सर्विस करता हूँ? बाप कहते हैं – बच्चे, सर्विसएबुल बनो, बाबा को फालो करो क्योंकि मैं भी तो सर्विस करता हूँ ना। आया ही हूँ सर्विस करने के लिए और रोज़-रोज़ सर्विस करता हूँ क्योंकि रथ भी तो लिया है ना। रथ भी मज़बूत, अच्छा है और सर्विस तो इनकी सदैव है। बापदादा तो इनके रथ में सदैव है। भले इनका शरीर बीमार पड़ जाये, मैं तो बैठा हूँ ना। तो मैं इनके अन्दर में बैठ करके लिखता भी हूँ, अगर यह मुख से नहीं भी बोल सके तो मैं लिख सकता हूँ। मुरली नहीं मिस होती है। जब तक बैठ सके, लिख सकें, तो मैं मुरली भी बजाता हूँ, बच्चों को लिखकरके भेज देता हूँ क्योंकि सर्विसएबुल हूँ ना। तो बाप आकरके समझाते हैं कि तुम अपने को आत्मा समझ करके निश्चयबुद्धि होकरके सर्विस में लग जाओ। बाप की सर्विस, ऑन गॉड फादरली सर्विस। जैसे वह लिखते हैं ऑन हिज़ मैजिस्टी सर्विस। तो तुम क्या कहेंगे? यह मैजिस्टी से भी ऊंची सर्विस है क्योंकि मैजिस्टी (महाराजा) बनाते हैं। यह भी तुम समझ सकते हो कि बरोबर हम वर्ल्ड का मालिक बनते हैं।

तुम बच्चों में जो अच्छी रीति पुरूषार्थ करते हैं उनको ही महावीर कहा जाता है। तो यह जांच करनी होती है कि कौन महावीर हैं जो बाबा के डायरेक्शन पर चलते हैं। बाप समझाते हैं कि बच्चे अपने को आत्मा समझो, भाई-भाई को देखो। बाप अपने को भाइयों का बाप समझते हैं और भाइयों को ही देखते हैं। सभी को तो नहीं देखेंगे। यह तो ज्ञान है कि शरीर बिगर तो कोई सुन न सके, बोल न सके। तुम तो जानते हो ना कि मैं भी यहाँ शरीर में आया हूँ। मैंने यह शरीर लोन लिया हुआ है। शरीर तो सबको है, शरीर के साथ ही आत्मा यहाँ पढ़ रही है। तो अभी आत्माओं को समझना चाहिए कि बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। बाबा की बैठक कहाँ है? अकाल तख्त पर। बाबा ने समझाया है कि हर एक आत्मा अकाल मूर्त है, वह कभी विनाश नहीं होती है, कभी भी जलती, कटती, डूबती नहीं है। छोटी-बड़ी नहीं होती है। शरीर छोटा-बड़ा होता है। तो दुनिया में जो भी मनुष्य मात्र हैं, उनमें जो आत्मायें हैं उनका तख्त यह भ्रकुटी है। शरीर भिन्न-भिन्न हैं। किसका अकाल तख्त पुरूष का, किसका स्त्री का, किसका बच्चे का। तो जब भी किससे बात करो तो यही समझो कि हम आत्मा हैं, अपने भाई से बात करते हैं। बाप का पैगाम देते हैं कि शिवबाबा को याद करो तो यह जो जंक लगी हुई है वह निकल जाये। जैसे सोने में अलाए पड़ती है तो वैल्यु कम होती है तो तुम्हारी भी वैल्यु कम हो गई है। अभी बिल्कुल ही वैल्यु लेस हो गये हैं। इसको देवाला भी कहा जाता है। भारत कितना धनवान था, अभी कर्जा उठाते रहते हैं। विनाश में तो सबका पैसा खत्म हो जायेगा। देने वाले, लेने वाले सभी खत्म हो जायेंगे बाकी जो अविनाशी ज्ञान रत्न लेने वाले हैं वह फिर आकर अपना भाग्य लेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप को फालो कर बाबा के समान सर्विसएबुल बनना है। अपने को आपेही परखना है कि मैं ऊंचे से ऊंचा इम्तहान पास करके ऊंच पद पाने के लायक हूँ?

2) बाबा के डायरेक्शन पर चलकर महावीर बनना है, जैसे बाबा आत्माओं को देखते हैं, आत्माओं को पढ़ाते हैं, ऐसे आत्मा भाई-भाई को देखकर बात करनी है।

वरदान:- तन की तन्दरूस्ती, मन की खुशी और धन की समृद्धि द्वारा श्रेष्ठ भाग्यवान भव
संगमयुग पर सदा स्व में स्थित रहने से तन का कर्मभोग सूली से कांटा हो जाता है, तन का रोग योग में परिवर्तन कर देते हो इसलिए सदा स्वस्थ हो। मनमनाभव होने के कारण खुशियों की खान से सदा सम्पन्न हो इसलिए मन की खुशी भी प्राप्त है और ज्ञान धन सब धनों से श्रेष्ठ है। ज्ञान धन वालों की प्रकृति स्वत: दासी बन जाती है और सर्व संबंध भी एक के साथ हैं, सम्पर्क भी होलीहंसों से है…इसलिए श्रेष्ठ भाग्यवान का वरदान स्वत: प्राप्त है।
स्लोगन:- याद और सेवा दोनों का बैलेन्स ही डबल लॉक है।

TODAY MURLI 25 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 December 2019

25/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not become careless about the pilgrimage of remembrance. It is by having remembrance that you souls will become pure. The Father has come to serve all souls. He has come to make them clean and pure.
Question: What consciousness should you maintain so that your food and drink become pure?
Answer: If you have the awareness that you have come to Baba in order to go to the land of truth and to change from human beings into deities, your food and drink will become pure because deities never eat anything impure. Since you have come to the true Baba in order to become the masters of the pure world, the land of truth, you cannot become impure.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children: Children, whom are you remembering when you sit here? You are remembering your unlimited Father. Where is He? You called out to Him: O Purifier! Nowadays, even sannyasis call out: O Purifier, Sita Rama, Rama, Purifier of the Impure, come! You children understand that the golden age is called the pure world and that the iron age, the impure world. Where are you now sitting? At the end of the iron age. This is why you call out: Baba come and make us pure. Who are we? Souls. It is souls that have to become pure. When a soul becomes pure, he receives a pure body. When you souls become impure, you also receive impure bodies. These bodies are like puppets of clay whereas souls are imperishable. Souls speak and call out through their organs: We have become very impure; come and make us pure! The Father makes you pure whereas the five vices of Ravan make you impure. The Father has now reminded you that you were pure and that, having taken 84 births, you are now in your last birth. The Father says: I am the Seed of this human world tree. You called out to Me: O Supreme Father, Supreme Soul, O God, the Father, liberate me! Everyone calls out for himself: Liberate me and become my Guide and take me back home to the land of peace! Sannyasis too ask how they can have constant peace. The land of peace is your home from where you souls come down to play your parts. Only souls exist there, not bodies. Souls remain naked, that is, without bodies. The meaning of “naked” does not mean to remain without clothes. No; souls remain naked (bodiless) without bodies. The Father says: Children, each of you souls resides there in the soul world without a body. That is called the incorporeal world. It has been explained to you children how you have been coming down the ladder. You take the maximum of 84 births whereas some even take one birth. Souls continue to come down from up above. The Father says: I have now come to make you pure. Shiv Baba teaches you through Brahma. Shiv Baba is the Father of souls, whereas Brahma is called Adi Dev. Only you children know how the Father enters this Dada. You call out to Me: O Purifier, come! Souls call out through their bodies. The main thing is the soul. This is the land of sorrow. Just see how here, in the iron age, whilst sitting somewhere, people suddenly die. There, no one ever becomes ill; the very name is heaven. It is such a good name. Your heart becomes happy when you mention its name. Christians too say that Paradise existed 3000 years before Christ. Here, the people of Bharat do not know anything. They have experienced a great deal of happiness and they have also experienced a great deal of sorrow. They have become tamopradhan. They are the ones who take 84 births. The other religions come after half a cycle. You now understand that the deities existed for half the cycle and there were no other religions and that when Rama of the silver age came into existence, there were no Buddhists or those of Islam. Human beings are in total darkness. They say that the duration of the world is hundreds of thousands of years. That is why human beings become confused and believe that the iron age is still in its infancy. You now understand that the iron age is coming to an end and that the golden age is about to come. That is why you have come to the Father to claim your inheritance of heaven. You all used to reside in heaven. The Father only comes to establish heaven. Only you go to heaven; everyone else will go home to the land of peace. That is the sweet home where all souls reside and then come down here to play their parts. A soul cannot speak without a body. There, because souls don’t have bodies, they remain in silence. Then, for half a cycle, there are the deities of the sun dynasty and the moon dynasty. Then, in the copper and iron ages, there are human beings. There used to be the kingdom of deities; where have they now gone? No one knows. You now receive this knowledge from the Father. No other human beings have this knowledge. Only the Father comes and gives this knowledge to you human beings through which you change from human beings into deities. You have come here in order to become deities from human beings. The food and drink of the deities is never impure. They never smoke cigarettes etc. Don’t even ask what impure people here do! They eat all sorts of things. The Father now explains: Previously, this Bharat was the land of truth. It must surely have been the true Father who established it. The Father is called the Truth. The Father says: Only I make this Bharat into the land of truth. I also teach you how you can become true deities. So many children come here. This is why these building etc. have been built. They will continue to be made until the end. Many buildings will be built and some will be bought. Shiv Baba carries out this task through Brahma. Brahma has become ugly because this is the last of his many births. He will then become beautiful. There is a picture of Krishna which portrays him as ugly and beautiful. There are also many large and beautiful pictures in the museums. You can explain these pictures to anyone very well. Baba does not have a museum built here. This is called the tower of silence. You know that you are to go back to your home, the land of peace. We are the residents of that place and we then come here, adopt bodies and play our parts. First of all, you children should have the faith that it is not a sage or saint teaching you. This Dada was a resident of Sindh, but the One who enters him in order to speak to you is the Ocean of Knowledge. No one knows Him. They do say, “God, the Father“, and yet they say that He does not have a name or form, that He is incorporeal. They say that He doesn’t have a form and then they say that He is omnipresent. Ask them where the Supreme Soul is, and they will reply that He is omnipresent or that He is in everyone. Oh! but there is a soul in each one; all are brothers, so how could God be in each and every particle? You cannot say that there is a soul as well as the Supreme Soul in each one. You call out to the Father, the Supreme Soul: Baba come and make us impure ones pure. You call out to Me to come and do this business, this service, of making you all pure. You invite Me to come into this impure world. You say: Baba, we are impure. The Father never sees the pure world. He has come into the impure world just to serve you. This kingdom of Ravan is now to be destroyed. All of you who study Raj Yoga will become the kings of kings. He has taught you this countless times and He will teach you again only after 5000 years. The kingdoms of the golden and silver ages are now being established. There first has to be the Brahmin clan. Brahma, the Father of Humanity, has been remembered. He is also called Adam and Adi Dev (the first deity). No one knows this. There are many who come here and listen to these things and then become influenced by Maya. Whilst becoming charitable souls, they become sinful souls. Maya is very powerful; she makes everyone into a sinful soul. There are no pure, charitable souls here. The deities were pure souls. It is when you have all become impure that you call out to the Father. This is now the impure world of the kingdom of Ravan. It is also called the forest of thorns. The golden age is called the garden of flowers. There are so many first-class flowers in the Mughal Gardens. You can also find uck flowers there, but no one knows the significance of them or why they offer uck flowers to Shiva. The Father sits here and explains: There are many different types of flowers whom I teach. There are first-class jasmine flowers, there are some other fragrant flowers (ratan-jyot) and even some who are like uck flowers; they are all numberwise. This is called the land of sorrow, the land of death. The golden age is the land of immortality. These things are not mentioned in the scriptures. This Dada studied the scriptures; the Father does not teach from the scriptures. The Father, Himself, is the Bestower of Salvation. Sometimes, He refers to the Gita. It was God who spoke the Gita, the jewel of all scriptures, but the people of Bharat do not know who God is. The Father says: I serve you altruistically and make you into the masters of the world. I, Myself, do not become that. You do not remember Me in heaven. Everyone remembers Me at a time of sorrow, but no one remembers Me at a time of happiness. This is called the play of happiness and sorrow. There are no other religions in heaven. They all come later on. You understand that this old world is now about to be destroyed. There will be many natural calamities and storms will come with great force. Everyone will be destroyed. The Father now comes and changes you from senseless to sensible. The Father gave you so many riches etc. Where have they all gone? You have now become so insolvent. What has Bharat, which was known as the Golden Sparrow, now become? The Purifier Father has now come and is teaching you Raj Yoga once again. That is hatha yoga whereas this is Raj Yoga. This Raj Yoga is for both men and women, whereas that hatha yoga is only learnt by men. The Father says: You must make effort and show everyone that you are definitely becoming the masters of the world. This old world is now definitely going to be destroyed. There is now very little time left. That war is to be the last war. Once that war begins, it will not stop. That war will start when you have attained your karmateet stage and have become worthy of going to heaven. Again, the Father says: Do not become careless about your pilgrimage of remembrance. It is in this that Maya causes obstacles. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become firstclass flowers by studying well with the Father. In order to make this forest of thorns into the garden of flowers, become the Father’s full helpers.
  2. In order to attain the karmateet stage and have a right to a high status in heaven, stay on the pilgrimage of remembrance and do not become careless.
Blessing: May you be full of light and might and serve many souls while staying in one place.
Just as a lighthouse is in one place and serves far into the distance, in the same way, all of you, while in one place, can become instruments to serve many. For this, you simply need to be full of light and might. Let your mind and intellect be constantly free from having waste thoughts. Become an easy embodiment of the mantra of “Manmanabhav”. Let the state of your mind be full of good wishes, pure feelings, an elevated attitude and elevated vibrations and you will then easily be able to do this service. This is true service with your mind.
Slogan: You Brahmin souls now have to become might and make other souls the mikes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 December 2019

25-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद की यात्रा में अलबेले मत बनो, याद से ही आत्मा पावन बनेगी, बाप आये हैं सभी आत्माओं की सेवा कर उन्हें शुद्ध बनाने”
प्रश्नः- कौन-सी स्मृति बनी रहे तो खान-पान शुद्ध हो जायेगा?
उत्तर:- यदि स्मृति रहे कि हम बाबा के पास आये हैं सचखण्ड में जाने के लिए वा मनुष्य से देवता बनने के लिए तो खान-पान शुद्ध हो जायेगा क्योंकि देवतायें कभी अशुद्ध चीज़ नहीं खाते। जब हम सत्य बाबा के पास आये हैं सचखण्ड, पावन दुनिया का मालिक बनने तो पतित (अशुद्ध) बन नहीं सकते।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं – बच्चे, तुम जब यहाँ बैठते हो तो किसको याद करते हो? अपने बेहद के बाप को। वह कहाँ है? उनको पुकारा जाता है ना-हे पतित-पावन! आजकल सन्यासी भी कहते रहते हैं पतित-पावन सीताराम अर्थात् पतितों को पावन बनाने वाले राम आओ। यह तो बच्चे समझते हैं पावन दुनिया सतयुग को, पतित दुनिया कलियुग को कहा जाता है। अभी तुम कहाँ बैठे हो? कलियुग के अन्त में इसलिए पुकारते हैं बाबा आकर हमको पावन बनाओ। हम कौन हैं? आत्मा। आत्मा को ही पवित्र बनना है। आत्मा पवित्र बनती है तो शरीर भी पवित्र मिलता है। आत्मा के पतित बनने से शरीर भी पतित मिलता है। यह शरीर तो मिट्टी का पुतला है। आत्मा तो अविनाशी है। आत्मा इन आरगन्स द्वारा कहती है, पुकारती है-हम बहुत पतित बन गये हैं, हमको आकर पावन बनाओ। बाप पावन बनाते हैं। 5 विकारों रूपी रावण पतित बनाते हैं। बाप ने अभी स्मृति दिलाई है – हम पावन थे फिर ऐसे 84 जन्म लेते-लेते अभी अन्तिम जन्म में हैं। यह जो मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है, बाप कहते हैं मैं इनका बीजरूप हूँ, मुझे बुलाते हैं-हे परमपिता परमात्मा, ओ गाड फॉदर, लिबरेट मी। हर एक अपने लिए कहते हैं मुझे छुड़ाओ भी और पण्डा बनकर शान्तिधाम घर में ले चलो। सन्यासी आदि भी कहते हैं स्थाई शान्ति कैसे मिले? अब शान्तिधाम तो है घर। जहाँ से आत्मायें पार्ट बजाने आती हैं। वहाँ सिर्फ आत्मायें ही हैं शरीर नहीं है। आत्मायें नंगी अर्थात् शरीर बिगर रहती हैं। नंगे का अर्थ यह नहीं कि कपड़े पहनने बिगर रहना। नहीं, शरीर बिगर आत्मायें नंगी (अशरीरी) रहती हैं। बाप कहते हैं-बच्चे, तुम आत्मायें वहाँ मूलवतन में बिगर शरीर रहती हो, उसे निराकारी दुनिया कहा जाता है।

बच्चों को सीढ़ी पर समझाया गया है-कैसे हम सीढ़ी नीचे उतरते आये हैं। पूरे 84 जन्म लगे हैं मैक्सीमम। फिर कोई एक जन्म भी लेते हैं। आत्मायें ऊपर से आती ही रहती हैं। अभी बाप कहते हैं मैं आया हूँ पावन बनाने। शिवबाबा, ब्रह्मा द्वारा तुम्हें पढ़ाते हैं। शिवबाबा है आत्माओं का बाप और ब्रह्मा को आदि देव कहते हैं। इस दादा में बाप कैसे आते हैं, यह तुम बच्चे ही जानते हो। मुझे बुलाते भी हैं-हे पतित-पावन आओ। आत्माओं ने इस शरीर द्वारा बुलाया है। मुख्य आत्मा है ना। यह है ही दु:खधाम। यहाँ कलियुग में देखो बैठे-बैठे अचानक मृत्यु हो जाती है, वहाँ ऐसे कोई बीमार ही नहीं होते। नाम ही है स्वर्ग। कितना अच्छा नाम है। कहने से दिल खुश हो जाता है। क्रिश्चियन भी कहते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था। यहाँ भारतवासियों को तो कुछ भी पता नहीं है क्योंकि उन्होंने सुख बहुत देखा है तो दु:ख भी बहुत देख रहे हैं। तमोप्रधान बने हैं। 84 जन्म भी इन्हों के हैं। आधाकल्प बाद फिर और धर्म वाले आते हैं। अभी तुम समझते हो आधाकल्प देवी-देवतायें थे तो और कोई धर्म नहीं था। फिर त्रेता में जब राम हुआ तो भी इस्लामी-बौद्धी नहीं थे। मनुष्य तो बिल्कुल घोर अन्धियारे में हैं। कह देते दुनिया की आयु लाखों वर्ष है, इसलिए मनुष्य मूँझते हैं कि कलियुग अजुन छोटा बच्चा है। तुम अभी समझते हो कलियुग पूरा हो अभी सतयुग आयेगा इसलिए तुम आये हो बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने। तुम सब स्वर्गवासी थे। बाप आते ही हैं स्वर्ग स्थापन करने। तुम ही स्वर्ग में आते हो, बाकी सब शान्तिधाम घर चले जाते हैं। वह है स्वीट होम, आत्मायें वहाँ निवास करती हैं। फिर यहाँ आकर पार्टधारी बनते हैं। शरीर बिगर तो आत्मा बोल भी न सके। वहाँ शरीर न होने कारण आत्मायें शान्ति में रहती हैं। फिर आधाकल्प हैं देवी-देवतायें, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी। फिर द्वापर-कलियुग में होते हैं मनुष्य। देवताओं का राज्य था फिर अब वह कहाँ गये? किसको पता नहीं। यह नॉलेज अभी तुमको बाप से मिलती है। और कोई मनुष्य में यह नॉलेज होती नहीं। बाप ही आकर मनुष्यों को यह नॉलेज देते हैं, जिससे ही मनुष्य से देवता बनते हैं। तुम यहाँ आये ही हो मनुष्य से देवता बनने के लिए। देवताओं का खान-पान अशुद्ध नहीं होता, वे कभी बीड़ी आदि पीते नहीं। यहाँ के पतित मनुष्यों की बात मत पूछो-क्या-क्या खाते हैं! अब बाप समझाते हैं यह भारत पहले सचखण्ड था। जरूर सच्चे बाप ने स्थापन किया होगा। बाप को ही ट्रूथ कहा जाता है। बाप ही कहते हैं मैं ही इस भारत को सचखण्ड बनाता हूँ। तुम सच्चे देवतायें कैसे बन सकते हो, वह भी तुमको सिखलाता हूँ। कितने बच्चे यहाँ आते हैं इसलिए यह मकान आदि बनवाने पड़ते हैं। अन्त तक भी बनते रहेंगे, बहुत बनेंगे। मकान खरीद भी करते हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा कार्य करते हैं। ब्रह्मा हो गया सांवरा क्योंकि यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है ना। यह फिर गोरा बनेगा। कृष्ण का भी चित्र गोरा और सांवरा है ना। म्युज़ियम में बड़े-बड़े अच्छे चित्र हैं, जिस पर तुम किसको अच्छी रीति समझा सकते हो। यहाँ बाबा म्युजियम नहीं बनवाते हैं इनको कहा जाता है टॉवर आफ साइलेन्स। तुम जानते हो हम शान्तिधाम अपने घर जाते हैं। हम वहाँ के रहने वाले हैं फिर यहाँ आकर शरीर ले पार्ट बजाते हैं। बच्चों को पहले-पहले यह निश्चय होना चाहिए कि यह कोई साधू-सन्त नहीं पढ़ाते हैं। यह (दादा) तो सिंध का रहने वाला था परन्तु इसमें जो प्रवेश कर बोलते हैं-वह है ज्ञान का सागर। उनको कोई जानते ही नहीं। कहते भी हैं गॉड फादर। परन्तु कह देते उनका नाम-रूप है ही नहीं। वह निराकार है, उनका कोई आकार नहीं है। फिर कह देते वह सर्वव्यापी है। अरे, परमात्मा कहाँ है? कहेंगे वह सर्वव्यापी है, सबके अन्दर है। अरे, हर एक के अन्दर आत्मा बैठी है, सब भाई-भाई हैं ना, फिर घट-घट में परमात्मा कहाँ से आया? ऐसे नहीं कहेंगे परमात्मा भी है और आत्मा भी है। परमात्मा बाप को बुलाते हैं, बाबा आकर हम पतितों को पावन बनाओ। मुझे तुम बुलाते हो यह धंधा, यह सेवा करने लिए। हम सभी को आकर शुद्ध बनाओ। पतित दुनिया में हमको निमंत्रण देते हो, कहते हो बाबा हम पतित हैं। बाप तो पावन दुनिया देखते ही नहीं। पतित दुनिया में ही तुम्हारी सेवा करने के लिए आये हैं। अब यह रावण राज्य विनाश हो जायेगा। बाकी तुम जो राजयोग सीखते हो वह जाकर राजाओं का राजा बनते हो। तुमको अनगिनत बार पढ़ाया है फिर 5 हज़ार वर्ष बाद तुमको ही पढ़ायेंगे। सतयुग-त्रेता की राजधानी अब स्थापन हो रही है। पहले है ब्राह्मण कुल। प्रजापिता ब्रह्मा गाया जाता है ना, जिसको एडम आदि देव कहते हैं। यह कोई को पता नहीं है। बहुत हैं जो यहाँ आकर सुनकर फिर माया के वश हो जाते हैं। पुण्य आत्मा बनते-बनते पाप आत्मा बन पड़ते हैं। माया बड़ी जबरदस्त है। सबको पाप आत्मा बना देती है। यहाँ कोई भी पवित्र आत्मा, पुण्य आत्मा है नहीं। पवित्र आत्मायें देवी-देवता ही थे, जब सभी पतित बन जाते हैं तब बाप को बुलाते हैं। अभी यह है रावण राज्य पतित दुनिया, इनको कहा जाता है कांटों का जंगल। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ फ्लावर्स। मुगल गार्डन में कितने फर्स्टक्लास अच्छे-अच्छे फूल होते हैं। अक के भी फूल मिलेंगे परन्तु इसका अर्थ कोई भी समझते नहीं हैं, शिव के ऊपर अक क्यों चढ़ाते हैं? यह भी बाप बैठ समझाते हैं। मैं जब पढ़ाता हूँ तो उनमें कोई फर्स्टक्लास मोतिये, कोई रतन ज्योत, कोई फिर अक के भी हैं। नम्बरवार तो हैं ना। तो इसको कहा ही जाता है दु:खधाम, मृत्युलोक। सतयुग है अमरलोक। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। शास्त्र तो इस दादा ने पढ़े हैं, बाप तो शास्त्र नहीं पढ़ायेंगे। बाप तो खुद सद्गति दाता है। करके गीता को रेफर करते हैं। सर्वशास्त्रमई शिरोमणी गीता भगवान ने गाई है परन्तु भगवान किसको कहा जाता है, यह भारतवासियों को पता नहीं। बाप कहते हैं मैं निष्काम सेवा करता हूँ, तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ, मैं नहीं बनता हूँ। स्वर्ग में तुम मुझे याद नहीं करते हो। दु:ख में सिमरण सब करें, सुख में करे न कोय। इनको दु:ख और सुख का खेल कहा जाता है। स्वर्ग में और कोई दूसरा धर्म होता ही नहीं। वह सभी आते ही हैं बाद में। तुम जानते हो अभी इस पुरानी दुनिया का विनाश हो जायेगा, नैचुरल कैलेमिटीज़ तूफान आयेंगे जोर से। सब खत्म हो जायेंगे।

तो बाप अभी आकर बेसमझदार से समझदार बनाते हैं। बाप ने कितना धन माल दिया था, सब कहाँ गया? अभी कितने इनसालवेन्ट बन गये हैं। भारत जो सोने की चिड़िया था वह अब क्या बन पड़ा है? अब फिर पतित-पावन बाप आये हुए हैं राजयोग सिखला रहे हैं। वह है हठयोग, यह है राजयोग। यह राजयोग दोनों के लिए है, वह हठयोग सिर्फ पुरूष ही सीखते हैं। अब बाप कहते हैं पुरूषार्थ करो, विश्व का मालिक बनकर दिखाओ। अब इस पुरानी दुनिया का विनाश तो होना ही है बाकी थोड़ा समय है, यह लड़ाई अन्तिम लड़ाई है। यह लड़ाई शुरू होगी तो रूक नहीं सकती। यह लड़ाई शुरू ही तब होगी जब तुम कर्मातीत अवस्था को पायेंगे और स्वर्ग में जाने के लायक बन जायेंगे। बाप फिर भी कहते हैं याद की यात्रा में अलबेले नहीं बनो, इसमें ही माया विघ्न डालती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप द्वारा अच्छी रीति पढ़कर फर्स्टक्लास फूल बनना है, कांटों के इस जंगल को फूलों का बगीचा बनाने में बाप को पूरी मदद करनी है।

2) कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करने वा स्वर्ग में ऊंच पद का अधिकार प्राप्त करने के लिए याद की यात्रा में तत्पर रहना है, अलबेला नहीं बनना है।

वरदान:- एक स्थान पर रहते अनेक आत्माओं की सेवा करने वाले लाइट-माइट सम्पन्न भव
जैसे लाइट हाउस एक स्थान पर स्थित होते दूर-दूर की सेवा करता है। ऐसे आप सभी एक स्थान पर होते अनेकों की सेवा अर्थ निमित्त बन सकते हो इसमें सिर्फ लाइट-माइट से सम्पन्न बनने की आवश्यकता है। मन-बुद्धि सदा व्यर्थ सोचने से मुक्त हो, मन्मनाभव के मंत्र का सहज स्वरूप हो – मन्सा शुभ भावना, श्रेष्ठ कामना, श्रेष्ठ वृत्ति और श्रेष्ठ वायब्रेशन से सम्पन्न हो तो यह सेवा सहज कर सकते हो। यही मन्सा सेवा है।
स्लोगन:- अब आप ब्राह्मण आत्मायें माइट बनो और दूसरी आत्माओं को माइक बनाओ।

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 December 2018

To Read Murli 24 December 2018 :- Click Here
25-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – समय प्रति समय ज्ञान सागर के पास आओ, ज्ञान रत्नों का वखर (सामान) भरकर फिर बाहर जाकर डिलेवरी करो, विचार सागर मंथन कर सेवा में लग जाओ”
प्रश्नः- सबसे अच्छा पुरूषार्थ कौन-सा है? बाप को कौन-से बच्चे प्यारे लगते हैं?
उत्तर:- किसी का भी जीवन बनाना, यह बहुत अच्छा पुरूषार्थ है। बच्चों को इसी पुरूषार्थ में लग जाना चाहिए। कभी अगर कोई भूल हो जाती है तो उसके बदले में खूब सर्विस करो। नहीं तो वह भूल दिल को खाती रहेगी। बाप को ज्ञानी और योगी बच्चे ही बहुत प्यारे लगते हैं।
गीत:- जो पिया के साथ है…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे समझ सकते हैं कि सम्मुख मुरली सुनना वा टेप में सुनना वा कागज पर पढ़ने में फ़र्क जरूर है। गीत में भी कहते हैं जो पिया के साथ है…….. बरसात तो सबके लिए है परन्तु साथ में रहने से बाप के एक्सप्रेशन को समझने, भिन्न-भिन्न डायरेक्शन को जानने का बहुत फायदा होता है। परन्तु ऐसे भी नहीं किसको बैठ जाना है। वखर (सामान) भरा और जाकर सर्विस की। फिर आया वखर भरने। मनुष्य सामान खरीद करने जाते हैं, बेचने के लिए। बेच कर फिर सामान लेने आते हैं। यह भी ज्ञान रत्नों का वखर है। वखर लेने वाले तो आयेंगे ना। कोई डिलेवरी नहीं करते हैं, पुराने वखर पर ही रहते हैं, नया लेने नहीं चाहते हैं। ऐसे भी बेसमझ हैं। मनुष्य तीर्थों पर जाते हैं, तीर्थ तो नहीं आयेंगे ना क्योंकि वह तो जड़ चित्र हैं। इन बातों को बच्चे ही जानते हैं। मनुष्य तो कुछ भी नहीं जानते। बहुत बड़े-बड़े गुरू लोग श्री श्री महामण्डलेश्वर आदि जिज्ञासुओं को तीर्थों पर ले जाते हैं, त्रिवेणी पर कितने जाते हैं। नदी पर जाकर दान करने को पुण्य समझते हैं। यहाँ भक्ति की तो बात ही नहीं। यहाँ तो बाप के पास आना है तो बच्चों को समझकर फिर समझाना है। प्रदर्शनी में भी मनुष्यों को समझाना है। यह जो 84 जन्मों का चक्र लगाते हैं यह तो बच्चे जानते हैं, सब नहीं लगाते हैं। इसमें समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। इस चक्र में ही मनुष्य मूंझते हैं। झाड़ का तो किसको पता ही नहीं है। शास्त्रों में भी चक्र दिखाते हैं। कल्प की आयु चक्र से निकालते हैं। चक्र में ही रोला है। हम तो पूरा चक्र लगाते हैं। 84 जन्म लेते हैं, बाकी इस्लामी, बौद्धी आदि वह तो बाद में आते हैं। हम कैसे उस चक्र से सतो, रजो, तमो में पास करते हैं – वह गोले में दिखाया हुआ है। बाकी और जो आते हैं इस्लामी, बौद्धी आदि उनका कैसे दिखावें? वह भी तो सतो, रजो, तमो में आते हैं। हम अपना विराट रूप भी दिखाते हैं – सतयुग से लेकर कलियुग तक पूरा राउण्ड ले आते हैं। चोटी है ब्राह्मणों की फिर मुख को सतयुग में, बाहों को त्रेता में, पेट को द्वापर में फिर टांगों को लास्ट में खड़ा करें। अपना तो विराट रूप दिखायें। बाकी अन्य धर्म वालों का कैसे दिखायें? उसे भी शुरू करें तो पहले सतोप्रधान, फिर सतो-रजो-तमो। तो इससे सिद्ध हो जायेगा कि कभी भी कोई निर्वाण में नहीं गया है। उनको तो इस चक्र में आना ही है। हरेक को सतो-रजो-तमो में आना ही है। इब्राहम, बुद्ध, क्राइस्ट आदि भी तो मनुष्य थे। रात में बाबा को बहुत ख्याल चलता है। ख्यालात में फिर नींद का नशा उड़ जाता है, नींद फिट जाती है। समझाने की बड़ी अच्छी युक्ति चाहिए। उनका भी विराट रूप बनाना पड़े। उनका भी पैर पिछाड़ी में ले जायें फिर लिखत में समझायें। बच्चों को समझाना है क्राइस्ट जब आते हैं उनको भी सतो-रजो-तमो से पास करना पड़ता है। सतयुग में तो वह आते नहीं। आना तो बाद में है। कहेंगे क्राइस्ट हेविन में नहीं आयेगा! यह तो बना-बनाया खेल है। तुम जानते हो क्राइस्ट के आगे भी धर्म थे फिर वो ही रिपीट करना है। ड्रामा का राज़ समझाना होता है। पहले-पहले तो बाप का परिचय देना है। बाप से कैसे सेकेण्ड में वर्सा मिलता है? गाया भी हुआ है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। देखो, बाबा के कितने ख्यालात चलते हैं। बाबा का पार्ट है विचार सागर मंथन का। गॉड फारदली बर्थ राइट, ”नाउ आर नेवर” अक्षर लिखा हुआ है। जीवनमुक्ति अक्षर लिखना है। लिखत क्लीयर होगी तो समझाने में सहज होगा। जीवनमुक्ति का वर्सा मिला। जीवनमुक्ति में राजा, रानी, प्रजा सब हैं। तो लिखत को भी ठीक करना पड़े। बिगर चित्र भी समझाया जा सकता है। सिर्फ इशारे पर भी समझाया जा सकता है। यह बाबा है, यह वर्सा है। जो योगयुक्त होंगे वह अच्छी रीति समझा सकेंगे। सारा मदार योग पर है। योग से बुद्धि पवित्र होती है तब ही धारणा हो सकती है। इसमें देही-अभिमानी अवस्था चाहिए। सब कुछ भूलना पड़े। शरीर को भी भूलना है। बस, अब हमको वापिस जाना है, यह दुनिया तो खत्म हो जाने वाली है। इस (बाबा) के लिए तो सहज है क्योंकि इनका धन्धा ही यह है। सारा दिन बुद्धि इसी में लगी हुई है। अच्छा, जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं उनको तो कर्म करना है। स्थूल कर्म करने से वह बातें भूल जाती हैं, बाबा की याद भूल जाती है। बाबा खुद अपना अनुभव सुनाते हैं। बाबा को याद करता हूँ, बाबा इस रथ को खिला रहे हैं फिर भूल जाता हूँ तो बाबा विचार करते हैं जबकि मैं भी भूल जाता हूँ तो इन बिचारों को कितनी तकलीफ होती होगी! इस चार्ट को बढ़ा कैसे सकते होंगे? प्रवृत्ति मार्ग वालों के लिए मुश्किल है। उन्हों को फिर मेहनत करनी पड़े। बाबा समझाते तो सबको हैं। जो पुरूषार्थ करते होंगे वह रिजल्ट लिख भेज सकते हैं। बाबा जानते हैं बरोबर डिफीकल्ट है। बाबा कहते हैं रात को मेहनत करो। तुम्हारा थक सारा उतर जायेगा, अगर तुम योगयुक्त हो विचार सागर मंथन करते रहेंगे तो। बाबा अपना अनुभव बताते हैं – कब और बातों तरफ बुद्धि चली जाती है तो माथा गर्म हो जाता है। फिर उन तूफानों से बुद्धि को निकाल इस विचार सागर मंथन में लग जाता हूँ तो माथा हल्का हो जाता है। माया के तूफान तो अनेक प्रकार के आते हैं। इस तरफ बुद्धि लगाने से वह थकावट सारी उतर जाती है, बुद्धि रिफ्रेश हो जाती है। बाबा की सर्विस में लग जाते हैं तो योग और ज्ञान का मक्खन मिल जाता है। यह बाबा अनुभव बता रहे हैं। बाप तो बच्चों को बतायेंगे ना – ऐसे-ऐसे होगा, माया के विकल्प आयेंगे। बुद्धि को फिर उस तरफ लगा देना चाहिए। चित्र उठाकर उसी पर ख्यालात करना चाहिए तो माया का तूफान उड़ जाये। बाबा जानते हैं कि माया ऐसी है जो याद में रहने नहीं देती। थोड़े हैं जो पूरा याद में रहते हैं। बड़ी-बड़ी बातें तो बहुत करते हैं। अगर बाबा की याद में रहें तो बुद्धि क्लीयर रहे। याद करने जैसा माखन और कोई है नहीं। परन्तु स्थूल बोझ बहुत होने से याद कम हो जाती है।

बम्बई में देखो पोप आया, कितनी उनकी महिमा थी जैसेकि सबका भगवान् आया था। ताकत वाले हैं ना। भारतवासियों को अपने धर्म का पता नहीं है। अपना धर्म हिन्दू कहते रहते हैं। हिन्दू तो कोई धर्म ही नहीं है। कहाँ से आया, कब स्थापन हुआ, किसको पता नहीं है। तुम्हारे में ज्ञान की उछल आनी चाहिए। शिव शक्तियों को ज्ञान में उछल मारनी चाहिए। उन्होंने तो शक्तियों को शेर पर दिखाया है। है सारी ज्ञान की बात। पिछाड़ी में जब तुम्हारे में ताकत आयेगी तो साधू सन्त आदि को भी समझायेंगे। इतना ज्ञान जब बुद्धि में हो तब उछल आ सकती है। जैसे पाता गांव में खेती करने वालों को टीचर पढ़ाते हैं तो वह पढ़ते नहीं। उनको खेती-बाड़ी ही अच्छी लगती है। ऐसे आज के मनुष्यों को यह ज्ञान दो तो कहेंगे यह अच्छा नहीं लगता, हमको तो शास्त्र पढ़ने हैं। परन्तु भगवान् साफ कहते हैं जप, तप, दान, पुण्य आदि से अथवा शास्त्र पढ़ने से मेरे को किसी ने नहीं पाया है। ड्रामा को नहीं जानते। वह थोड़ेही समझते हैं नाटक में एक्टर्स हैं, पार्ट बजाने यह चोला लिया है। यह है ही कांटों का जंगल। एक-दूसरे को कांटा लगाते, लूटते मारते रहते हैं। सूरत भल मनुष्य की है परन्तु सीरत बन्दर जैसी है। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। कोई नया सुने तो गर्म हो जाये। बच्चे थोड़ेही गर्म होंगे। बाप कहते हैं मैं बच्चों को ही समझाता हूँ। बच्चों को तो माता-पिता कुछ भी कह सकते हैं। बच्चों को बाप चमाट भी मारे तो दूसरा थोड़ेही कुछ कर सकता। मात-पिता का तो फर्ज है बच्चों को सुधारना। परन्तु यहाँ लॉ नहीं है। जैसा कर्म मैं करूंगा मुझे देख और भी करेंगे। तो बाबा ने जो विचार सागर मंथन किया वह भी बतलाया। यह पहला नम्बर में है, इनको 84 जन्म लेने पड़ते हैं। तो और भी जो हेड्स (धर्म स्थापक) हैं वे फिर निर्वाण में कैसे जायेंगे। उनको सतो, रजो, तमो में जरूर आना है। पहला नम्बर में लक्ष्मी-नारायण हैं जो विश्व के मालिक हैं। उन्हों को भी 84 जन्म लेने पड़ते हैं। मनुष्य सृष्टि में जो हाइएस्ट न्यू मैन है उनके साथ न्यू वीमेन भी चाहिए। नहीं तो वीमेन बिगर पैदाइस कैसे होगी? सतयुग में न्यू मैन हैं यह लक्ष्मी-नारायण। ओल्ड से ही न्यू होते हैं। यह तो आलराउन्ड पार्ट वाले हैं। बाकी भी सब सतो से तमो में आते हैं, ओल्ड बनते हैं फिर ओल्ड से न्यू हो जाते हैं। जैसे क्राइस्ट पहले न्यू आया फिर ओल्ड बनकर गया फिर न्यू होकर आयेगा अपने टाइम पर। यह बात बड़ी समझने की है। इसमें योग अच्छा चाहिए। पूरा सरेन्डर भी चाहिए तब ही वर्से का हकदार बन सके। सरेन्डर होगा तो फिर बाबा डायरेक्शन भी दे सकेंगे कि ऐसे-ऐसे करो। कोई सरेन्डर है फिर कहता हूँ कि व्यवहार में भी रहो तो बुद्धि का मालूम पड़े। व्यवहार में रहते हुए ज्ञान उठाओ, पास होकर दिखाओ। गृहस्थ में नहीं जाना। ब्रह्मचारी होकर रहना तो अच्छा है। बाबा हरेक का हिसाब भी पूछते हैं। मम्मा-बाबा की पालना ली है तो फिर कर्ज भी उतारना है तो बल मिलेगा। नहीं तो बाप भी कहेगा कि हमने इतनी मेहनत कर पालना की और हमको छोड़ दिया। हरेक की रग देखनी पड़ती है फिर डायरेक्शन दिये जाते हैं। समझो इनसे भूल हो जाती है तो बाप उसको अभुल कराए ठीक कर देते हैं। यह भी क़दम-क़दम श्रीमत पर चलते रहते हैं। कब नुकसान हो जाता है तो समझते हैं ड्रामा में था। आगे फिर ऐसी बात होनी नहीं चाहिए। भूल तो अपने दिल को खाती है। भूल की है तो उसकी एवज में फिर बहुत सर्विस में लगना चाहिए, पुरूषार्थ बहुत करना चाहिए। कोई का जीवन बनाना – यह है पुरूषार्थ।

बाबा कहते हैं मुझे योगी और ज्ञानी सबसे प्यारा है। योग में रहकर भोजन बनाये, खिलाये तो बहुत उन्नति हो सकती है। यह शिवबाबा का भण्डारा है। तो शिवबाबा के बच्चे जरूर ऐसे योगयुक्त होंगे। धीरे-धीरे अवस्था ऊंच होती है। टाइम जरूर लगता है। हरेक का कर्मबन्धन अपना-अपना है। कन्याओं पर कोई बोझ नहीं। हाँ, बच्चों पर है। बड़े बच्चे हो गये हैं तो मात-पिता को बोझ पड़ता है। बाप ने इतना समझाया, इतना समय पालना की है तो उन्हों की पालना करनी पड़े। हिसाब चुक्तू करना है तो उनकी भी दिल खुश होगी। सपूत बच्चे जो होते हैं तो वह मुसाफ़िरी से लौटने पर सब कुछ बाप के आगे रखते हैं। कर्जा उतारना है ना। बहुत समझने की बातें हैं। ऊंच पद पाने वाले ही शेर मुआफ़िक उछलते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योग में रहकर भोजन बनाना है। योग में ही रहकर भोजन खाना और खिलाना है।

2) बाबा ने जो समझाया है उस पर अच्छी रीति विचार सागर मंथन कर योगयुक्त हो औरों को भी समझाना है।

वरदान:- बाप समान हर आत्मा पर कृपा वा रहम करने वाले मास्टर रहमदिल भव
जैसे बाप रहमदिल है, ऐसे आप बच्चे भी सब पर कृपा वा रहम करेंगे क्योंकि बाप समान निमित्त बने हुए हो। ब्राह्मण आत्मा को कभी किसी आत्मा के प्रति घृणा नहीं आ सकती। चाहे कोई कंस हो, जरासंधी हो या रावण हो – कोई भी हो लेकिन फिर भी रहमदिल बाप के बच्चे घृणा नहीं करेंगे। परिवर्तन की भावना, कल्याण की भावना रखेंगे क्योंकि फिर भी अपना परिवार है, परवश है, परवश के ऊपर घृणा नहीं आती।
स्लोगन:- मास्टर ज्ञान सूर्य बन शक्तियों रुपी किरणों से कमजोरी रुपी किचड़े को भस्म कर दो।

TODAY MURLI 25 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 December 2017 :- Click Here

25/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the night of the iron age is now coming to an end. The Father has come to create the new age. Therefore, awaken and have your sins absolved with remembrance of the Father.
Question: What are the signs of children whose intellects continue to become satopradhan?
Answer: They continue to have thoughts of making others equal to themselves. They continue to create methods to benefit themselves and others. They remain engaged in service day and night.
Question: What is the biggest task that you children have received?
Answer: The task of giving the Father’s message to the whole world is huge. No soul should be left out of receiving the Father’s introduction. Day and night, continue to think about how to blow the conch shell and explain to others.
Song: Awaken! O brides, awaken! The new age is about to come.

Om shanti. Who woke you up? Who is it who is saying ‘brides’? You children understand that the unlimited Father is only One and that His real name is Shiva. All the other names given are names from the path of devotion. The only right name is Shiva. People celebrate His birthday, that is, God’s birthday. The birthday of incorporeal Shiva is also remembered. When a soul takes a body, the body is given a name. Shiva is the name of that Soul. He is called the Supreme Soul. What is the name of that Soul? The name that is remembered is Shiva. Shiva Jayanti (birthday) is also remembered. You would not say, “the birthday of souls”. The God of the Gita is incorporeal Shiva. Shri Krishna is the name of a body because he is a bodily being. It is Shiv Baba who comes and awakens the brides and gives His introduction and says: I have come to create the new world. Now, constantly remember Me alone. You have to conquer Maya. Baba is also called the Purifier. Deities were pure and have now become impure. This is why everyone calls out: O Purifier, come! Come and liberate us. From what? From Maya, Ravan, or the devil. People are unable to understand that they now have to return. The new age, the golden age, is now about to come. The new age is also mentioned in the song. That is the pure world. The Father only comes to purify the impure. The new world is called the new age or the golden age. This is the iron age, the old world. All are sleeping in the sleep of Kumbhakarna; Baba comes and awakens them. Maya has put everyone to sleep in the dark night of ignorance. The Father now says: Children, awaken from the sleep of Kumbhakarna. It is now the end of this old world. Death is just ahead. The night is now coming to an end and the day is to come. Therefore, awaken! You understand that Baba has come. We too were sleeping in extreme darkness. Baba has now come to change the night into day. Baba says: I have come to bring the day, that is, the new age, for you. Now remember Me and your sins will be absolved. Because all are impure at this time, everyone says: Liberate us from this Ravan! No one understands when the kingdom of the devil began. The Father comes and frees you from the claws of Ravan. How? Only when the Father comes can He tell you this. Then we can explain to others from our experience. Everyone has to become impure while coming down. I, the Purifier, have to come at the confluence age. Human beings of the world are in extreme darkness. They believe that hundreds of thousands of years of the iron age still remain because those wrong things have been mentioned in the scriptures. The divine age is now to be established. It is only the Father who changes the extreme depths of hell into heaven. The Father would not create extreme depths of hell. You children now have the firm faith that Baba is teaching us. He has been teaching us for a long time. Trimurti Shiva Jayanti is now going to come. You have to write: Shiva Jayanti is also the Gita Jayanti. When they celebrate Shri Krishna Jayanti, they don’t celebrate the Gita Jayanti. Krishna is a small child. Only when he grows older could he relate the Gita. Trimurti Shiva Jayanti means the Gita Jayanti. These matters have to be understood well. Those people have separated the Gita Jayanti because they believe that Krishna is a small child; how could he relate the Gita? The Father teaches Raja Yoga to only you children. ‘Liberation-in-life in a second’ is also remembered. When you sit in a school to become a barrister, you study how to become a barrister. The aim and objective there is for you to become a barrister. However, to claim a high status in that then depends on how you study. Those who study well claim a high status. If they don’t study, they receive a low status. Everything depends on studying. You have come here to change from human beings into deities. However, among the deities too, the status is numberwise. Some are first class, some are second class and others are third class. All of these things are incognito. How we are establishing our kingdom cannot enter the intellect of anyone else. The Mahabharat War is about to take place. However, the Pandava community will not fight. The devil and the Kaurava communities will fight among themselves and be destroyed. Therefore, you children now have to make effort. You also have to explain. Baba continues to give you directions from time to time. How would the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, teach you Raja Yoga? He would surely enter a body. The Father is now giving you shrimat: Children, you have to stay on the pilgrimage of remembrance. Remember Me. This is the fire of yoga through which your sins will be absolved. Day by day, you continue to receive many good points. The point about the Purifier too is good. People call out to the Purifier Father and then they go and bathe in the Ganges. You can write in big lettering: The Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Purifier. He is also the Ocean of Knowledge. He purifies the whole world. It is a question of the whole world. How can the world become pure? The Ganges and Jamuna rivers have always existed. It is now the time of the iron age, so there are problems. In the golden age the rivers will flow properly. However, no one becomes pure through them. You have to explain this very clearly. You also have to distribute leaflets. You have to distribute them on seeing each individual. You definitely have to explain two or three main points. In fact, at this time, all are impure and vicious; it is everyone’s stage of descent. Guru Nanak said that God washed the dirty, impure clothes. Bharat definitely has to become elevated. This is called the corrupt world. Only the deities were elevated beings. At this time no one can become that because it is Maya’s kingdom. However, they do receive the happiness of their devotion. Here, a creation is not created with the power of yoga. A creation takes place through vice. At first, there are few people and, when there is growth, they fight among themselves. Everyone first has to experience happiness and then sorrow. This applies to human beings. In the golden age, human beings are happy and so the animals etc. are also happy. The Father explains: Write this and this! Trimurti Shiva Jayanti is also the Shrimad Bhagawad Gita Jayanti. You then also have to explain it. Those who understand these things want to explain them to others. How can there be expansion unless you explain to them? According to the drama, whatever part each of you has of understanding and explaining, you are playing that part. The part of devotion is becoming more and more powerful day by day. It is remembered that people’s eyes open when the haystack is set on fire. You children have to blow the conch shell. Day and night, you should think about how to explain to others. You have to give the Father’s introduction to the whole world. This is such a big task! The world is so big! There are many religions and many lands. In the golden age, there is just the one religion and then expansion continues to take place. You understand that it is only through Prajapita Brahma that Brahmins are created. They neither show the Brahmin clan nor the One who creates it. You have to explain that they only show the Kauravas and the Pandavas. You are Brahmins. There are the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris and so Prajapita is also definitely needed through whom the different lineages emerge. They show the deities, warriors, merchants and shudras, but they have omitted the confluence-aged Brahmins. They remember “Trimurti Brahma”, but there is no meaning to “Trimurti Brahma”. Who can explain to them? You understand that the incorporeal Father sat and explained to us through the mouth of Brahma. Children are born through the lotus lips of Brahma. When He speaks to you, Brahma also hears. If you didn’t exist, what would Shiv Baba do? All of these things are not spoken to just one. In the scriptures, they have mentioned the name of only one Arjuna. Whatever pointemerges at any time, you should busy yourself in that service at that time. Everything is explained to you very clearly. However, it requires effort to stay in yoga and become pure. It requires so much effort to renounce poison. It is because of poison that there is fighting. Therefore, you children have to pay attention to service, that is, you have to study and then teach others. Only in this service is there benefit. You should have this concern. Those who ask the new ones to fill in a form have to be very clever. At the time of them filling in the form, ask them: You are making spiritual endeavour. Do you want to go to the land of liberation? Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Master of the land of liberation. That Father comes and purifies us. The bathing etc. only takes place in Bharat; they don’t do that in any other religion. Those people bow their heads in front of their religious leaders and offer them flowers. They sing their praise. They don’t even know that the Purifier is only the one Father. Now, at Christmas, people celebrate Christ so much. However, people still remember: God, the Father. They call out to Him. They (Christians) too will receive this knowledge. Baba continues to tell you: Make these pictures so that they can also be sent abroad. Your intellects should work for the benefit of the unlimited world. Baba’s intellect continues to work all the time. Very few value these pictures. The Father had them made through divine vision. There should be so much regard for them. However, there isn’t that much regard. Very important, firstclass service takes place through them. According to the drama, some will emerge who will make these pictures. As you progress further, such intelligent ones will emerge, they continue to invent new ways in service and that people will become happy on seen them. English has spread everywhere. There are so many languages. There must be English-speaking people in every country. This is why Baba also takes up English as well as Hindi. Eventually, these things will emerge in all languages. It is very easy to explain to anyone. However, when it doesn’t sit in someone’s intellect, it is seen what that person would do. Those who have wealth and don’t donate it are called misers. They hear through one ear and let it out through the other. Each one of you definitely has to be concerned for your own progress. You must not be coloured by company. Remain busy in service. Otherwise, there will be a great loss. You must definitely try to make progress for yourself. “Baba, I will go and do the service of making many others equal to myself.” You should have such thoughts. Such ones are called those with satopradhan intellects. Those who have tamopradhan intellects neither benefit themselves nor others. They are called senseless. One with a satopradhan intellect is sensible. Some have very severe karmic accounts. Even though they understand everything, they remain trapped. At this time you have to remain busy in service day and night. This is an income for yourself. I have to claim the full inheritance from the Father. Otherwise, there will be a loss every cycle. First of all, benefit yourself and you will then be able to benefit others. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be miserly in donating the wealth of knowledge. Create methods for your own benefit and also the benefit of others.
  2. Study and teach others the study to change from human beings into deities. Pay full attention to doing service and to studying. Settle your severe karmic accounts with the power of yoga.
Blessing: May you become a combined form and constantly experience entertainment with the company of the Companion.
Whenever you experience loneliness, do not remember the Father in the Point form. That would be difficult and you would get bored. At that time, bring the stories of the entertaining experiences into your awareness and also bring in front of you a list of your attainments of self-respect. Do not just remember Him with your head, but be combined with the Companion in your heart and experience the sweetness of the love of all relationships. This is “Manmanabhav” and, to be “Manmanabhav” in this way is to have entertainment.
Slogan: Continue to say, “Yes, present indeed” according to the Father’s shrimat and you will receive a right to all powers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize