daily murli 24 november

TODAY MURLI 24 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 November 2020

24/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have wasted a lot of time tolerating sorrow. The world is now changing. Remember the Father, become satopradhan and your time will be used in a worthwhile way.
Question: What effort do you need to make in order to win the lottery for 21 births?
Answer: If you want to win the lottery for 21 births, become a conqueror of attachment. Sacrifice yourself completely to the Father. Always have the awareness that this old world is now changing and that we are going to the new world. Even while seeing this old world, don’t see it. Use your handful of rice in a worthwhile way, like Sudama did, and claim the golden-aged sovereignty.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You children understand that “spiritual children” means souls and that “spiritual Father” means the Father of souls. This is known as the meeting of souls with the Supreme Soul. This meeting only takes place once. You children know all of these things. This is something unique. The Father without an image explains to souls without an image. In fact, souls are without an image and they then adopt an image when they come here. They play their parts through their images. There is a soul in everyone. There is a soul in all the animals too. They speak of 8.4 million species and all animals are included in that. There are many animals. The Father explains: Don’t waste your time in those matters. People without this knowledge continue to waste a lot of their time. At this time, the Father sits here and teaches you children and you then experience the reward for half the cycle. You don’t have any difficulty there. Your time is wasted tolerating sorrow; there is nothing but sorrow here. This is why everyone remembers the Father: Our time is being wasted in sorrow and so take us away from here! You would never say that your time is wasted in happiness. You also understand that, at this time, human beings have no value. You can see how people die suddenly. So many people die in just one storm. In the kingdom of Ravan human beings have no value. The Father is now giving you so much value. He is changing you from not worth a penny to worth a pound. It is remembered: The birth like a diamond is invaluable. At this time human beings chase after shells. Perhaps they become millionaires, multimillionaires or billionaires; their intellects are engrossed in that all of the time. They are told to forget all of that and to remember the one Father, but they don’t accept it. This will only sit in the intellects of those in whose intellects it sat in the previous cycle. Otherwise, no matter how much you explain, it will not sit in their intellects. You know, numberwise, that this world is changing. Even though you may have written on a board outside that the world is changing, they will not understand this until you explain to them. OK, once someone has understood this, you then have to tell him: Remember the Father and become satopradhan. The knowledge is very easy. This is the sun dynasty and this is the moon dynasty…and so on. This world is now changing and it is the one Father who changes it. You know this accurately, and that too is numberwise, according to the efforts you make. Maya doesn’t allow you to make effort and so you then understand that, according to the drama, you are not able to make so much effort. You children now know that you are changing this world for yourselves by following shrimat. Shrimat is from the one Shiv Baba. It is very easy to say, “Shiv Baba, Shiv Baba”. No one else knows Shiv Baba or the inheritance. “Baba” means an inheritance. There has to be the true Shiv Baba. Nowadays, they even call a mayor “father. They call Gandhi, “father. Someone is even called Jagadguru, which would mean that he is the guru of the whole world. No human being can be that, since the Purifier and the Bestower of Salvation for All is the one Father. The Father is incorporeal; so how does He liberate you? The world is changing and so He definitely comes here to act. Only then could you become aware of this. It isn’t that annihilation takes place and that the Father then creates the new world. In the scriptures they have portrayed a huge annihilation taking place and then Krishna coming, floating on a pipal leaf. However, the Father explains that it is not like that. Since it is remembered that the history and geography of the world repeat, there cannot be annihilation. It is in your hearts that the old world is now changing. Only the Father comes and explains all of these things. Lakshmi and Narayan are the masters of the new world. In the pictures, they have portrayed Ravan as the master of the old world. Both the kingdoms of Rama and Ravan have been remembered. It is in your intellects that Baba finishes the old, devilish world and inspires the establishment of the new, divine world. The Father says: Hardly anyone knows Me as I am or what I am. You know Me, numberwise, according to the efforts you make. Those who make effort very well also have great intoxication. Those who make effort for remembrance have real intoxication. You don’t experience as much intoxication explaining the knowledge of the cycle of 84 births as you do on the pilgrimage of remembrance. The main thing is to become pure. People call out: Come and purify us! They don’t say: Come and give us the sovereignty of the world. You listen to so many stories on the path of devotion. This is the true story of the true Narayan. You have been hearing those stories for birth after birth and have continued to come down. It is only in Bharat that they have the system of listening to religious stories. In other lands, they don’t have such religious stories. They consider Bharat to be religious. There are so many temples in Bharat. Christians only have the one church. Here, they have so many different types of temple. In fact there should only be one temple to Shiv Baba. There should be the name of just the One, but there are so many names here. People come from abroad to see the temples here. Those poor people don’t understand what ancient Bharat was like. There is nothing older than 5000 years. They think that they have found something older than hundreds of thousands of years. The Father explains: The pictures that exist in the temples etc. have only existed for 2500 years. At first, there is worship of Shiva alone; that is unadulterated worship. In the same way, there is also unadulterated knowledge. First, there is unadulterated worship and then there is adulterated worship. Now, look how they worship water and the soil etc! The unlimited Father says: You wasted so much wealth on the path of devotion. There are so many scriptures and so many pictures. There must be so many different Gitas. Look what you have become by spending so much on all of that! Yesterday, I made you doublecrowned; now, you have become so poverty-stricken. It is a matter of only yesterday. You also understand that you truly have been around the cycle of 84 births. We are now once again becoming this. We are claiming our inheritance from Baba. Baba repeatedly inspires you to make effort. The term “Manmanabhav” is also mentioned in the Gita. Some words in that are correct. It is said: It used to exist. That is, the deity religion doesn’t exist now, but there are its images. Look how well they have made your memorial. You understand that you are now once again carrying out establishment. Then, on the path of devotion, our accurate memorial will be built. When an earthquake takes place, everything is destroyed and everything has to be built anew. There are all the skills there. There is also the skill of cutting diamonds. Here, too, people cut diamonds and then set them. Diamond cutters are very expert. They will then go there. All of these skills will go there too. You know that there will be so much happiness there. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. The very name is heaven, one hundred per cent solvent. It is now insolvent. There is a lot of fashion in Bharat for wearing jewellery; it continues from time immemorial. So you children should have so much happiness. You know that this world is changing. Heaven is being created and so we definitely do need to become pure for that. We also have to imbibe divine virtues. This is why Baba says: Definitely write your chart. Have I, this soul, performed any devilish act? Firmly consider yourself to be a soul. Have I performed any sinful act through this body? If I have, then my register would be spoilt. This is the lottery for 21 births. This is also a race. There are horse races. This is called the sacrificial fire in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty, which means that you souls have to race. You now have to return home. That is also called the sweet silence home. You are listening to these words now. The Father says: Children, now make a lot of effort. You are receiving a kingdom and that is no small thing. I am a soul and I have taken this many births. The Father says: Your 84 births are now coming to an end. You now have to begin again from the first number. It will definitely be you children who will sit in the new palaces. You will not sit in old ones. It isn’t that you will sit in old ones and rent out the new ones to tenants. The more effort you make, so accordingly, you will become the masters of the new world. When a new home is being built, the heart’s desire is to leave the old one and go and sit in the new one. The Father builds a new home for the children only when the earlier one becomes old. There, it isn’t a question of renting it out. Just as those people try to get a plot of land on the moon, so you are claiming your plot in heaven. The more yoga and knowledge you have, the purer you will become. This is Raja Yoga; you are receiving such a huge kingdom! When people go searching for a plot of land on the moon, it is all wasteful. These things that now give you happiness will later become things that bring about destruction and cause sorrow. As you progress further, there will be fewer armies. Everything will happen very quickly through bombs. This drama is predestined and destruction will take place suddenly at the right time. Soldiers etc. will then die. You are now becoming angels. You know that destruction takes place for you. It is part of the drama for the old world to end. Whatever actions each one performs, accordingly he has to suffer. For instance, sannyasis may be good, but they still take birth to householders. Only in the new world will you receive an elevated birth and that too will be according to your sanskars. You are now taking those sanskars to the new world. You will definitely take birth in Bharat. Because you perform such actions, you will take birth to those who are very good, religious-minded people. You will take birth according to your sanskars. You will go and take birth in a very high clan. There wouldn’t be anyone else who performs actions like you. Your birth will be according to how you study and the service you have do. Many have to die. Those who are to receive you will go in advance. The Father explains: This world is now changing. The Father has granted you visions. Baba tells you of his own example. He saw that he was going to receive a kingdom for 21 births, and so he thought: What is this one or two million compared to that? The first one (alpha) received the sovereignty and the second one (beta) received the “donkeyship”. He told his partner to take whatever he wanted. There was no difficulty. You children have been told what you receive from Baba. You receive the kingdom of heaven! Continue to open as many centresas possible. You have to benefit many. You are earning an income for 21 births. Here, there are many millionaires and billionaires. All of them are beggars. Many will come to you. Many come to the exhibitions; don’t think that subjects are not being created. Many subjects are created. Many people say that this is very good but they say that they don’t have time! By hearing just a little, they will become part of the subjects. This imperishable knowledge is never destroyed. It is not a small thing to give Baba’s introduction. Some will have goose pimples. If someone wants to claim a high status, he will busy himself in making effort. Baba will not take money from anyone. The pool is created through each drop of the children. Some even send one rupee: Baba, use one brick in my name. There is also the praise of the handful of rice of Sudama. Baba says: These are like diamonds and jewels for you. Everyone’s life becomes like a diamond. You are creating this for the future. You know that everything you see with your physical eyes is part of the old world. This world is now changing. You are now becoming the masters of the land of immortality. You definitely do have to become conquerors of attachment. You have been saying: Baba, when You come we will sacrifice ourselves to You. So this is a good bargain, is it not? People don’t know why He has been given the names: Businessman, Jewel Merchant and Magician. He is the Jewel Merchant; each imperishable jewel of knowledge is an invaluable version. The story of Rup and Basant is based on this. You too are rup and basant. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t now perform any sinful acts through your body. Don’t perform any devilish act through which your register would become spoilt.
  2. Maintain the intoxication of having remembrance of the one Father. Definitely make the main effort of becoming pure. Don’t waste your invaluable time chasing after shells, but make your life elevated by following shrimat.
Blessing: May you become a self-transformer and real gold by moulding yourself and being successful in every task.
Those who transform themselves in every situation and become self-transformers are always successful and this is why you have to keep the aim of transforming yourself. It is not that you will change when others change: whether others change or not, I have to change. I have to become Arjuna. I always have to be first in bringing about transformation. Those who are first in this claim number one because only those who mould themselves are real gold. There is value only in real gold.
Slogan: With the practical proof of your elevated life, reveal the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुमने दु:ख सहन करने में बहुत टाइम वेस्ट किया है, अब दुनिया बदल रही है, तुम बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो तो टाइम सफल हो जायेगा”
प्रश्नः- 21 जन्मों के लिए लॉटरी प्राप्त करने का पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- 21 जन्मों की लॉटरी लेनी है तो मोहजीत बनो। एक बाप पर पूरा-पूरा कुर्बान जाओ। सदा यह स्मृति में रहे कि अब यह पुरानी दुनिया बदल रही है, हम नई दुनिया में जा रहे हैं। इस पुरानी दुनिया को देखते भी नहीं देखना है। सुदामा मिसल चावल मुट्ठी सफल कर सतयुगी बादशाही लेनी है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं, यह तो बच्चे समझते हैं। रूहानी बच्चे माना आत्मायें। रूहानी बाप माना आत्माओं का बाप। इसको कहा जाता है आत्माओं और परमात्मा का मिलन। यह मिलन होता ही है एक बार। यह सब बातें तुम बच्चे जानते हो। यह है विचित्र बात। विचित्र बाप विचित्र आत्माओं को समझाते हैं। वास्तव में आत्मा विचित्र है, यहाँ आकर चित्रधारी बनती है। चित्र से पार्ट बजाती है। आत्मा तो सबमें है ना। जानवर में भी आत्मा है। 84 लाख कहते हैं, उसमें तो सब जानवर आ जाते हैं ना। ढेर जानवर आदि हैं ना। बाप समझाते हैं इन बातों में टाइम वेस्ट नहीं करना है। सिवाए इस ज्ञान के मनुष्यों का टाइम वेस्ट होता रहता है। इस समय बाप तुम बच्चों को बैठ पढ़ाते हैं फिर आधाकल्प तुम प्रालब्ध भोगते हो। वहाँ तुमको कोई तकलीफ नहीं होती है। तुम्हारा टाइम वेस्ट होता ही है दु:ख सहन करने में। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है इसलिए सब बाप को याद करते हैं कि हमारा दु:ख में टाइम वेस्ट होता है, इससे निकालो। सुख में कभी टाइम वेस्ट नहीं कहेंगे। यह भी तुम समझते हो-इस समय मनुष्य की कोई वैल्यु नहीं है। मनुष्य देखो अचानक ही मर पड़ते हैं। एक ही तूफान में कितने मर जाते हैं। रावण राज्य में मनुष्य की कोई वैल्यु नहीं है। अभी बाप तुम्हारी कितनी वैल्यु बनाते हैं। वर्थ नाट ए पेनी से वर्थ पाउण्ड बनाते हैं। गाया भी जाता है हीरे जैसा जन्म अमोलक। इस समय मनुष्य कौड़ी पिछाड़ी लगे हुए हैं। करके लखपति, करोड़पति, पद्मपति बनते हैं, उन्हों की सारी बुद्धि उसमें ही रहती है। उनको कहते हैं-यह सब भूल एक बाप को याद करो परन्तु मानेंगे ही नहीं। उनकी बुद्धि में बैठेगा, जिनकी बुद्धि में कल्प पहले भी बैठा होगा। नहीं तो कितना भी समझाओ, कभी बुद्धि में बैठेगा नहीं। तुम भी नम्बरवार जानते हो कि यह दुनिया बदल रही है। बाहर में भल तुम लिख दो कि दुनिया बदल रही है फिर भी समझेंगे नहीं। जब तक तुम किसको समझाओ। अच्छा, कोई समझ जाए फिर उनको समझाना पड़े-बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो। नॉलेज तो बहुत सहज है। यह सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी……। अभी यह दुनिया बदल रही है, बदलाने वाला एक ही बाप है। यह भी तुम यथार्थ रीति जानते हो सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। माया पुरुषार्थ करने नहीं देती फिर समझते हैं यह भी ड्रामा अनुसार इतना पुरुषार्थ नहीं चलता है। अभी तुम बच्चे जानते हो कि श्रीमत से हम अपने लिए इस दुनिया को बदला रहे हैं। श्रीमत है ही एक शिवबाबा की। शिवबाबा, शिवबाबा कहना तो बहुत सहज है और कोई न शिवबाबा को, न वर्से को जानते हैं। बाबा माना ही वर्सा। शिवबाबा भी सच्चा चाहिए ना। आजकल तो मेयर को भी फादर कह देते हैं। गांधी को भी फादर कहते हैं, कोई को फिर जगद्गुरू कह देते हैं। अब जगत माना सारी सृष्टि का गुरू। वह कोई मनुष्य हो कैसे सकता! जबकि पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। बाप तो है निराकार फिर कैसे लिबरेट करते हैं? दुनिया बदलती है तो जरूर एक्ट में आयेंगे तब तो पता पड़ेगा। ऐसे नहीं कि प्रलय हो जाती है, फिर बाप नई सृष्टि रचते हैं। शास्त्रों में दिखाया है बहुत बड़ी प्रलय होती है, फिर पीपल के पत्ते पर कृष्ण आता है। परन्तु बाप समझाते हैं ऐसे तो है नहीं। गाया जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट तो प्रलय हो न सके। तुम्हारे दिल में है कि अभी यह पुरानी दुनिया बदल रही है। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण हैं नई दुनिया के मालिक। तुम चित्रों में भी दिखलाते हो कि पुरानी दुनिया का मालिक है रावण। राम राज्य और रावण राज्य गाया जाता है ना। यह बातें तुम्हारी बुद्धि में हैं कि बाबा पुरानी आसुरी दुनिया को खत्म कर नई दैवी दुनिया स्थापन करा रहे हैं। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, कोई विरला ही समझते हैं। वह भी तुम नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो जो अच्छे पुरुषार्थी हैं उनको बड़ा अच्छा नशा रहता है। याद के पुरूषार्थी को रीयल नशा चढ़ेगा। 84 के चक्र की नॉलेज समझाने में इतना नशा नहीं चढ़ता जितना याद की यात्रा में चढ़ता है। मूल बात है ही पावन बनने की। पुकारते भी हैं-आकर पावन बनाओ। ऐसा नहीं पुकारते कि आकर विश्व की बादशाही दो। भक्ति मार्ग में कथायें भी कितनी सुनते हैं। सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा तो यह है। वह कथायें तो जन्म-जन्मातर सुनते-सुनते नीचे ही उतरते आये हो। भारत में ही यह कथायें सुनने का रिवाज है, और कोई खण्ड में कथायें आदि नहीं होती। भारत को ही रिलीजस मानते हैं। ढेर के ढेर मन्दिर भारत में हैं। क्रिश्चियन की तो एक ही चर्च होती है। यहाँ तो किस्म-किस्म के ढेर मन्दिर हैं। वास्तव में एक ही शिवबाबा का मन्दिर होना चाहिए। नाम भी एक का होना चाहिए। यहाँ तो ढेर नाम हैं। विलायत वाले भी यहाँ मन्दिर देखने आते हैं। बिचारों को यह पता नहीं कि प्राचीन भारत कैसा था? 5 हज़ार वर्ष से तो पुरानी कोई चीज़ होती नहीं। वह तो समझते हैं कि लाखों वर्ष की पुरानी चीज़ मिली। बाप समझाते हैं यह मन्दिर में चित्र आदि जो बने हैं उनको 2500 वर्ष ही हुए हैं, पहले-पहले शिव की ही पूजा होती है। वह है अव्यभिचारी पूजा। वैसे ही अव्यभिचारी ज्ञान भी कहा जाता है। पहले अव्यभिचारी पूजा, फिर है व्यभिचारी पूजा। अब तो देखो पानी, मिट्टी की पूजा करते रहते हैं।

अभी बेहद का बाप कहते हैं तुमने कितना धन भक्ति मार्ग में गँवाया है। कितने अथाह शास्त्र, अथाह चित्र हैं। गीतायें कितनी ढेर की ढेर होंगी। इन सब पर खर्चा करते-करते देखो तुम क्या हो गये हो। कल तुमको डबल सिरताज बनाया था फिर तुम कितने कंगाल हो गये हो। कल की ही तो बात है ना। तुम भी समझते हो बरोबर हमने 84 का चक्र लगाया है। अभी हम फिर से यह बन रहे हैं। बाबा से वर्सा ले रहे हैं। बाबा घड़ी-घड़ी ताकीद करते (पुरुषार्थ कराते) हैं, गीता में भी अक्षर है मनमनाभव। कोई-कोई अक्षर ठीक हैं। ‘प्राय:’ कहा जाता है ना, यानि देवी-देवता धर्म है नहीं, बाकी चित्र हैं। तुम्हारा यादगार देखो कैसे अच्छा बनाया हुआ है। तुम समझते हो अभी हम फिर से स्थापना कर रहे हैं। फिर भक्ति मार्ग में हमारे ही एक्यूरेट यादगार बनेंगे। अर्थक्वेक आदि होती है, उसमें सब खत्म हो जाता है। फिर वहाँ सब तुम नया बनायेंगे। हुनर तो वहाँ रहता है ना। हीरे काटने का भी हुनर (कला) है। यहाँ भी हीरों को काटते हैं फिर बनाते हैं। हीरे काटने वाले भी बड़े एक्सपर्ट होते हैं। वह फिर वहाँ जायेंगे। वहाँ यह सब हुनर जायेगा। तुम जानते हो वहाँ कितना सुख होगा। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। नाम ही है स्वर्ग। 100 परसेन्ट सालवेन्ट। अभी तो है इनसालवेन्ट। भारत में जवाहरात का बहुत फैशन है, जो परम्परा चला आता है। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। तुम जानते हो यह दुनिया बदल रही है। अब स्वर्ग बन रहा है, उसके लिए हमको पवित्र जरूर बनना है। दैवी गुण भी धारण करने हैं इसलिए बाबा कहते हैं चार्ट जरूर लिखो। हम आत्मा ने कोई आसुरी एक्ट तो नहीं किया? अपने को आत्मा पक्का समझो। इस शरीर से कोई विकर्म तो नहीं किया? अगर किया तो रजिस्टर खराब हो जायेगा। यह है 21 जन्मों की लॉटरी। यह भी रेस है। घोड़े की दौड़ होती है ना। इसको कहते हैं राजस्व अश्वमेध…….. स्वराज्य के लिए अश्व यानी तुम आत्माओं को दौड़ी लगानी है। अब वापिस घर जाना है। उसको स्वीट साइलेन्स होम कहा जाता है। यह अक्षर तुम अभी सुनते हो। अब बाप कहते हैं बच्चे खूब मेहनत करो। राजाई मिलती है, कम बात थोड़ेही है। मैं आत्मा हूँ, हमने इतने जन्म लिए हैं। अब बाप कहते हैं तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। अब फिर पहले नम्बर से शुरू करना है। नये महलों में जरूर बच्चे ही बैठेंगे। पुराने में तो नहीं बैठेंगे। ऐसे तो नहीं, खुद पुराने में बैठे और नये में किराये वालों को बिठायेंगे। तुम जितनी मेहनत करेंगे, नई दुनिया के मालिक बनेंगे। नया मकान बनता है तो दिल होती है पुराने को छोड़ नये में बैठें। बाप बच्चों के लिए नया मकान बनाते ही तब हैं जब पहला मकान पुराना होता है। वहाँ किराये पर देने की तो बात ही नहीं। जैसे वो लोग मून पर प्लाट लेने की कोशिश करते हैं, तुम फिर स्वर्ग में प्लाट ले रहे हो। जितना-जितना ज्ञान और योग में रहेंगे उतना पवित्र बनेंगे। यह है राजयोग, कितनी बड़ी राजाई मिलेगी। बाकी यह जो मून आदि पर प्लाट ढूँढते रहते हैं वह सब व्यर्थ है। यही चीज़ें जो सुख देने वाली हैं वही फिर विनाश करने, दु:ख देने वाली बन जायेंगी। आगे चलकर लश्कर आदि सब कम हो जायेगा। बॉम्ब्स से ही फटाफट काम होता जायेगा। यह ड्रामा बना हुआ है, समय पर अचानक विनाश होता है। फिर सिपाही आदि भी मर जाते हैं। तुम अब फरिश्ते बन रहे हो। तुम जानते हो हमारे खातिर विनाश होता है। ड्रामा में पार्ट है, पुरानी दुनिया खलास हो जाती है। जो जैसा कर्म करते हैं ऐसा तो भोगना है ना। अब समझो संन्यासी अच्छे हैं, जन्म तो फिर भी गृहस्थियों पास लेंगे ना। श्रेष्ठ जन्म तो तुमको नई दुनिया में मिलना है, फिर भी संस्कार अनुसार जाकर वह बनेंगे। तुम अभी संस्कार ले जाते हो नई दुनिया के लिए। जन्म भी जरूर भारत में लेंगे। जो बहुत अच्छे रिलीजस माइन्डेड होंगे उनके पास जन्म लेंगे क्योंकि तुम कर्म ही ऐसे करते हो। जैसे-जैसे संस्कार, उस अनुसार जन्म होता है। तुम बहुत ऊंच कुल में जाकर जन्म लेंगे। तुम्हारे जैसा कर्म करने वाला तो कोई होगा नहीं। जैसी पढ़ाई, जैसी सर्विस, वैसा जन्म। मरना तो बहुतों को है। पहले रिसीव करने वाले भी जाने हैं। बाप समझाते हैं अब यह दुनिया बदल रही है। बाप ने तो साक्षात्कार कराया है। बाबा अपना भी मिसाल बताते हैं। देखा 21 जन्मों के लिए राजाई मिलती है, उसके आगे यह 10-20 लाख क्या हैं। अल्फ को मिली बादशाही, बे को मिली गदाई। भागीदार को कह दिया जो चाहिए सो लो। कोई भी तकलीफ नहीं हुई। बच्चों को भी समझाया जाता है-बाबा से तुम क्या लेते हो? स्वर्ग की बादशाही। जितना हो सके सेन्टर्स खोलते जाओ। बहुतों का कल्याण करो। तुम्हारी 21 जन्मों की कमाई हो रही है। यहाँ तो लखपति, करोड़पति बहुत हैं। वह सब हैं बेगर्स। तुम्हारे पास आयेंगे भी बहुत। प्रदर्शनी में कितने आते हैं, ऐसा मत समझो प्रजा नहीं बनती है। प्रजा बहुत बनती है। अच्छा-अच्छा तो बहुत कहते हैं परन्तु कहते हमको फुर्सत नहीं। थोड़ा भी सुना तो प्रजा में आ जायेंगे। अविनाशी ज्ञान का विनाश नहीं होता है। बाबा का परिचय देना कोई कम बात थोड़ेही है। कोई-कोई के रोमांच खड़े हो जायेंगे। अगर ऊंच पद पाना होगा तो पुरुषार्थ करने लग पड़ेंगे। बाबा कोई से धन आदि तो लेंगे नहीं। बच्चों की बूंद-बूंद से तलाब होता है। कोई-कोई एक रूपया भी भेज देते हैं। बाबा एक ईट लगा दो। सुदामा की मुट्ठी चावल का गायन है ना। बाबा कहते हैं तुम्हारे तो यह हीरे-जवाहर हैं। हीरे जैसा जन्म सबका बनता है। तुम भविष्य के लिए बना रहे हो। तुम जानते हो यहाँ इन ऑखों से जो कुछ देखते हैं, यह पुरानी दुनिया है। यह दुनिया बदल रही है। अभी तुम अमरपुरी के मालिक बन रहे हो। मोहजीत जरूर बनना पड़े। तुम कहते आये हो कि बाबा आप आयेंगे तो हम कुर्बान जायेंगे, सौदा तो अच्छा है ना। मनुष्य थोड़ेही जानते हैं, सौदागर, रत्नागर, जादूगर नाम क्यों पड़ा है। रत्नागर है ना, अविनाशी ज्ञान रत्न एक-एक अमूल्य वर्शन्स हैं। इस पर रूप-बसन्त की कथा है ना। तुम रूप भी हो, बसन्त भी हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब इस शरीर से कोई भी विकर्म नहीं करना है। ऐसी कोई आसुरी एक्ट न हो जिससे रजिस्टर खराब हो जाए।

2) एक बाप की याद के नशे में रहना है। पावन बनने का मूल पुरूषार्थ जरूर करना है। कौड़ियों पिछाड़ी अपना अमूल्य समय बरबाद न कर श्रीमत से जीवन श्रेष्ठ बनानी है।

वरदान:- स्वयं को मोल्ड कर रीयल गोल्ड बन हर कार्य में सफल होने वाले स्व परिवर्तक भव
जो हर परिस्थिति में स्वयं को परिवर्तन कर स्व परिवर्तक बनते हैं वह सदा सफल होते हैं इसलिए स्वयं को बदलने का लक्ष्य रखो। दूसरा बदले तो मैं बदलूँ-नहीं। दूसरा बदले या न बदले मुझे बदलना है। हे अर्जुन मुझे बनना है। सदा परिवर्तन करने में पहले मैं। जो इसमें पहले मैं करता वही पहला नम्बर हो जाता क्योंकि स्वयं को मोल्ड करने वाला ही रीयल गोल्ड है। रीयल गोल्ड की ही वैल्यु है।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ जीवन के प्रत्यक्ष प्रमाण द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करो।

TODAY MURLI 24 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 November 2018 :- Click Here

24/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything, including your bodies, is going to be destroyed. Therefore, you don’t need to listen to the news of the old world. Just remember the Father and the inheritance.
Question: What is remembered of shrimat? What are the signs of those who follow shrimat?
Answer: It is remembered of shrimat: Whatever you feed me, whatever you give me to wear, wherever you make me sit, I will just do that. The children who follow shrimat follow every one of the Father’s orders. They always perform elevated actions. They never mix the dictates of their own minds with shrimat. They understand what is right and what is wrong.
Song: O Dweller of the forest, Your name is the support of my life!

Om shanti. Whose song is this? The children’s. There are some songs in which the Father explains to the children, but, the children say in this song: Baba, we now understand. The world doesn’t know how false this world is and how false the bondages are. Here, everyone is unhappy and this is why they remember God. There is no question of meeting God in the golden age. Here, there is sorrow and this is why souls remember God. However, according to the drama, you only find the Father when He Himself comes. All the effort that everyone makes is wasted because they believe God to be omnipresent. They show wrong paths to finding God. If they were to say that they don’t know God or the beginning, middle and end of His creation, that would be telling the truth. Earlier, rishis and munis etc. used to tell the truth. At that time, they were rajoguni. At that time, you wouldn’t have said that the world was false. Hell, the end of the iron age, is said to be the false world. At the confluence age, you would say: This is hell and that is heaven. You wouldn’t call the copper age hell. At that time, you still have rajopradhan intellects. They are now tamopradhan. So you would write “heaven” and “hell” at the confluence age. Today it is hell , and tomorrow it will be heaven. The Father comes and explains this. The world doesn’t know that this time is the end of the iron age. Everyone settles their karmic accounts and becomes satopradhan at the end. Then they have to go through the stages of sato, rajo and tamo. Even those who have parts of just one or two births go through the stages of sato, rajo and tamo. They only have small parts. Great understanding is required for this. People in the world have many opinions. Not everyone can have the same opinion. Each one has his own religion and his own opinion. The occupation of the Father is separate from that of every soul. The religion of each one is different, and so different explanations are needed for each one. The name, form, land and time period of each one is separate. You can see that so and so belongs to such and such a religion. Everyone says that they belong to the Hindu religion, but there are many varieties in that too. Some are Arya Samajis, some are sannyasis and some are Brahm Samajis. They consider all the sannyasis etc. as belonging to the Hindu religion. Even if we write that we belong to the Brahmin religion or the deity religion, they still put us in the column of the Hindu religion because they don’t have any other sections. When you have each one fill in an individual form , you can tell about their backgrounds. Those of other religions would not believe in these things and it would then be difficult to explain to them all at the same time. They would think that we are simply praising our own religion. There is duality here. The children who explain are also numberwise. Not everyone is the same and this is why they invite the maharathis to come. Baba has explained: Remember Me and follow My shrimat. There is no question of inspiration in this. If everything were to happen through inspiration, there would be no need for the Father to come. Shiv Baba is here. So, what is the need for Him to give inspiration? Here, you have to follow the Father’s directions. There is no question of inspiration. Some trance messengers bring a message but there are sometimes a lot of things also mixed in that. Not all trance messengers are the same; there is a lot of interferenceof Maya. Everything has to be verified by another trance messenger. Some say that Baba or Mama come in her and she then goes and opens another centre of her own: there is the influence of Maya. These matters have to be understood. You children have to become very sensible. Only servicea ble children will be able to understand these things. Those who don’t follow shrimat will not be able to understand these things. It is remembered of shrimat: Whatever You feed me, whatever You give me to wear, wherever You make me sit, I will do that. Some follow the Father’s directions and some are influenced by the directions of others. If they don’t receive something, if they don’t like something, they quickly get upset. Not all the children can be worthy to the same extent. There are people with so many different opinions in the world. There are many sinful souls like Ajamil and those without virtues. You also have to explain that it is wrongto call God omnipresent. It is the five vices that are omnipresent. This is why the Father says: This is the devilish world. The five vices don’t exist in the golden age. They say: It is written in the scriptures like this. However, all the scriptures are written by human beings. So, are human beings or the scriptures elevated? Surely, the One who speaks them is elevated. It was human beings who wrote them. Vyas wrote them, but he too was a human being. The incorporeal Father sits here and explains: A scripture is created later of what the founder of that religion came and said. For example, the Granth was created later of what Guru Nanak spoke about. Therefore, the name of the person who spoke those things is glorified. Guru Nanak also praised that One. The Father of all is that One. The Father says: Go and establish a religion. The unlimited Father says: There is no one to send Me. Shiv Baba Himself sits here and explains: They are those who bring a message but there is no one to send Me here. I would not be called a messenger. I come to give peace and happiness to the children. No one told Me to come. I Myself am the Master. There are also those who believe in the Master, but you should ask them if they understand the meaning of the word ‘Master’. He is the Master and we are His children, and so we should surely receive the inheritance. You children say: Our Baba. So, you are the masters of the Father’s wealth. Only the children would say “My Baba!” If you say, “My Baba,” then Baba’s wealth is also your wealth. What do we say now? “Our Shiv Baba!” The Father would also say: These are My children. Children receive the inheritance from the Father. The Father has property. The unlimited Father is the Creator of heaven. From whom do the people of Bharat receive their property? From Shiv Baba. They celebrate Shiva Jayanti. After Shiva Jayanti, there is Krishna Jayanti and then Rama Jayanti; that’s all. No one remembers the Jayanti of Mama or Baba or of Jagadamba. There is Shiva Jayanti, then the Jayanti of Radhe and Krishna and then of Rama and Sita. When Shiv Baba comes, the shudra kingdom can be destroyed. No one understands these secrets. The Father sits here and explains. He definitely does come. Why do you call out to the Father? To come and establish the land of Shri Krishna. You know that Shiva Jayanti definitely does take place. Shiva Baba is giving you knowledge. The original eternal deity religion is being established. Shiv Jayanti is the greatest Jayanti of all. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar. Now, Prajapita Brahma is in the human world. Then, Lakshmi and Narayan are the main ones of the creation. So Shiva is the Mother and Father, and then Brahma and Jagadamba are also the mother and father. These matters have to be understood and imbibed. You first have to explain: The Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, comes to make impure ones pure. If He is beyond name and form, how could there be His jayanti? God is called the Father. Everyone believes in the Father. Souls and the Supreme Soul are incorporeal. Souls receive corporeal bodies. These matters have to be understood. This is even easier for those who haven’t studied any scriptures etc. The Father of souls, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who establishes heaven. There is the kingdom in heaven and so He definitely has to come at the confluence age. He cannot come in the golden age. Only at the confluence age do you receive the reward of the inheritance for 21 births. This confluence age is of Brahmins. Brahmins are the topknot, and then there is the age of the deities. Each age is 1250 years. Three religions are established at this time: Brahmins, deities and warriors because there are no other religions for half the cycle. Those of the sun and moon dynasties are worthy of worship and then they become worshippers. There are many of those types of brahmin. You are now performing good actions and so you will receive the reward of that in the golden age. The Father teaches you how to perform good actions. You know that you will accordingly receive the reward of whatever actions you perform, according to shrimat, and of making others the same as yourselves. The whole kingdom is being established now. There is to be the kingdom of the original eternal deity religion. This is the rule of people by people. It is the rule by a group of people. There are many different groups. Otherwise, there are just the five representatives of the committees. Here, there are so many communities; they are here today and gone tomorrow. Today, someone is a Minister and tomorrow, he would be thrown out of that position. They make an agreement and then cancel it. That is a temporary kingdom; they don’t take long to dethrone anyone. The world is so large. You get to hear of something or other from the newspapers. No one can read so many newspapers. You don’t need the news of this world. You know that everything of this world, including your bodies, is to be destroyed. Baba says: Simply remember Me and you will come to Me. After death, a soul has visions of everything. Sometimes, after leaving his body, a soul wanders around. He can settle his karmic accounts at that time too. He has visions of everything. The soul has visions internally. He suffers for his actions and repents a great deal: I did that unnecessarily. There is repentance. Some are jailbirds and they say: At least we will receive food in jail. It means their purpose is just to eat; they are not concerned about their honour. You don’t have any difficulty. You belong to the Father and so you have to follow His shrimat. It isn’t that He would cause sorrow for anyone. He is the Bestower of Happiness. Obedient children would say: Baba, whatever directions You give. I sit with You alone. This is remembered of Shiv Baba. Bhagirath, (the Lucky Chariot) and the bull are well known. It is written that the urn of knowledge was placed on the mothers. So, they have then shown cows. They have made up so many stories. No one in this world can be everhealthy. There are so many types of disease. There is no disease or untimely death there. They have visions at the right time. The older ones are happy: when they become old, they shed their bodies in happiness. They have a vision that they will then go and become a baby. Now, even you younger ones have the happiness that you will shed your bodies and go and become prince s. Whether you are young or old, everyone has to die. So, all of you should have the intoxication that you will go and become princes. You will definitely become that when you do service. You should have the happiness that you will now shed your old bodies and go to Baba and Baba will then send you to heaven. You should do service. You children heard the song. Krishna wasn’t the one with a flute. Many people have flutes; they play the flute very well. There is no question of a flute in this. You say that only the one Father gives shrimat. Shri Krishna did not have this knowledge. He didn’t have this easy yoga or knowledge in him. He didn’t teach Raja Yoga; he studied Raja Yoga from the Father. This is such a great thing. Until someone becomes a child, he wouldn’t be able to understand and it is a question here of following shrimat. You cannot claim a high status by following your own dictates. Those who know the Father would give the Father’s introduction to others. You have to give the introduction of the Father and His creation. If you don’t give others the Father’s introduction, it means you don’t know Him. If you have that intoxication, you then have to make others intoxicated. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always perform elevated actions according to shrimat. Don’t be influenced by the directions of others. Be obedient and follow every order. If you are unable to understand something, definitely have it verified.
  2. Always stay in the intoxication and happiness that you will shed your old body and then go and become a prince. Maintain this intoxication and do God’s service.
Blessing: May you be a master almighty authority and constantly maintain your elevated honour and finish all the troubles of others.
Always keep this blessing in your awareness: I am a master almighty authority who maintains my elevated honour and who finishes all the troubles of others too. I am not weak. I am seated on the seat of my elevated honour. Those who are seated on the immortal throne, on the Father’s heart throne and who maintain their elevated honour can never become distressed even in their dreams. No matter how much someone may try to distress you, you will always maintain your elevated honour.
Slogan: Constantly maintain your self-respect and you will continue to receive respect from everyone.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 November 2018

To Read Murli 23 November 2018 :- Click Here
24-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह सहित यह सब कुछ ख़त्म होने वाला है, इसलिए तुम्हें पुरानी दुनिया के समाचार सुनने की दरकार नहीं, तुम बाप और वर्से को याद करो”
प्रश्नः- श्रीमत के लिए गायन कौन-सा है? श्रीमत पर चलने वालों की निशानी सुनाओ?
उत्तर:- श्रीमत के लिए गायन है – जो खिलायेंगे, जो पहनायेंगे, जहाँ बिठायेंगे…….. वही करेंगे। श्रीमत पर चलने वाले बच्चे बाप की हर आज्ञा का पालन करते हैं। उनसे सदा श्रेष्ठ कर्म होते हैं। वे कभी श्रीमत में अपनी मनमत मिक्स नहीं करते। उनमें राइट और रांग की समझ होती है।
गीत:- बनवारी रे. ……. 

ओम् शान्ति। यह गीत किसका है? बच्चों का। कोई गीत ऐसे भी होते हैं जिसमें बाप बच्चों को समझाते हैं लेकिन इस गीत में बच्चे कहते हैं कि बाबा, अब तो हम समझ गये, दुनिया को तो पता नहीं कि कैसी यह झूठी दुनिया है, झूठे बंधन हैं। यहाँ सब दु:खी हैं तब तो ईश्वर को याद करते हैं। सतयुग में तो ईश्वर से मिलने की बात ही नहीं है। यहाँ दु:ख है तब आत्माओं को याद पड़ता है परन्तु ड्रामा अनुसार बाप मिलते ही तब हैं जब स्वयं आते हैं। बाकी और जो भी पुरुषार्थ करते हैं सब व्यर्थ है क्योंकि ईश्वर को सर्वव्यापी मानते हैं, ईश्वर का रास्ता ग़लत बताते हैं। अगर कहें कि ईश्वर और उनकी रचना के आदि, मध्य, अन्त को हम नहीं जानते हैं तो यह बोलना सच है। आगे ऋषि-मुनि आदि सच बोलते थे, उस समय रजोगुणी थे। उस समय झूठी दुनिया नहीं कहेंगे। झूठी दुनिया नर्क, कलियुग अन्त को कहते हैं। संगम पर कहेंगे – यह नर्क है, वह स्वर्ग है। ऐसे नहीं द्वापर को नर्क कहेंगे। उस समय फिर भी रजोप्रधान बुद्धि है। अभी है तमोप्रधान। तो हेल और हेविन संगम पर लिखेंगे। आज हेल है, कल हेविन होगा। यह भी बाप आकर समझाते हैं, दुनिया नहीं जानती कि इस समय कलियुग का अन्त है। सब अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू कर अन्त में सतोप्रधान बनते हैं फिर सतो, रजो, तमो में आना ही है। जिनका एक-दो जन्म का पार्ट है, वह भी सतो, रजो, तमो में आते हैं। उन्हों का पार्ट ही थोड़ा है। इसमें बड़ी समझ चाहिए। दुनिया में तो अनेक मत वाले मनुष्य हैं। सबकी एक मत तो नहीं होती। हरेक का अपना-अपना धर्म है। मत अपनी-अपनी है। बाप का आक्यूपेशन अलग है। हरेक आत्मा का अलग है। धर्म भी अलग है। तो उनके लिए समझानी भी अलग चाहिए। नाम, रूप, देश, काल सबका अलग है। देखने में आता है यह फलाने का धर्म है। हिन्दू धर्म में तो सब कहते हैं परन्तु उनमें भी सब भिन्न-भिन्न हैं। कोई आर्य समाजी, कोई सन्यासी, कोई ब्रह्म समाजी। सन्यासी आदि जो भी हैं सबको हिन्दू धर्म में मानते हैं। हम लिखें कि हम ब्राह्मण धर्म के हैं अथवा देवता धर्म के हैं तो भी वे हिन्दू में लगा देते हैं क्योंकि और कोई सेक्शन तो उन्हों के पास है ही नहीं। तो हरेक का फार्म अलग-अलग होने से मालूम पड़ जायेगा। और कोई धर्म वाला होगा तो इन बातों को मानेगा नहीं। फिर उनको इकट्ठा समझाना मुश्किल है। वे तो समझेंगे कि यह तो अपने धर्म की महिमा करते हैं। इनमें द्वैत है। समझाने वाले बच्चे भी नम्बरवार हैं। सब एक समान तो हैं नहीं इसलिए महारथियों को बुलाते हैं।

बाबा ने समझाया है – मुझे याद करो, मेरी श्रीमत पर चलो। इसमें प्रेरणा आदि की कोई बात नहीं। अगर प्रेरणा से काम हो तो फिर बाप के आने की दरकार ही नहीं। शिवबाबा तो यहाँ है। तो उनको प्रेरणा की क्या दरकार है। यह तो बाप की मत पर चलना होता है। प्ररेणा की बात नहीं। कोई-कोई सन्देशियां सन्देश ले आती हैं, उसमें भी बहुत मिक्स हो जाता है। सन्देशी तो सब एक जैसी हैं नहीं। माया का बहुत इन्टरफियर होता है। दूसरी सन्देशी से वेरीफाय कराना होता है। कई तो कह देते हैं हमारे में बाबा आते हैं, मम्मा आती है फिर अपना अलग सेन्टर खोल बैठते हैं। माया की प्रवेशता हो जाती है। यह बड़ी समझने की बात है। बच्चों को बहुत सेन्सीबुल बनना चाहिए। जो सर्विसएबुल बच्चे हैं, वही इन बातों को समझ सकते हैं। जो श्रीमत पर नहीं चलते, वह इन बातों को नहीं समझेंगे। श्रीमत के लिए गायन है कि आप जो खिलायेंगे, जो पहनायेंगे, जहाँ बिठायेंगे, वह करेंगे। ऐसे कोई तो बाप की मत पर चलते हैं, कोई फिर दूसरों की मत के प्रभाव में आ जाते हैं। कोई वस्तु नहीं मिली, कोई बात पसन्द नहीं आई तो झट बिगड़ पड़ते हैं। सब थोड़ेही एक जैसे सपूत बच्चे हो सकते हैं। दुनिया में तो ढेर की ढेर मत वाले हैं। अजामिल जैसी पाप आत्माएं, गणिकायें बहुत हैं।

यह भी समझाना पड़ता है कि ईश्वर सर्वव्यापी कहना रांग है। सर्वव्यापी तो पांच विकार हैं इसलिए बाप कहते हैं यह आसुरी दुनिया है। सतयुग में पांच विकार होते नहीं। कहते हैं शास्त्रों में यह बात ऐसे है। परन्तु शास्त्र तो सब मनुष्यों ने बनाए हैं। तो मनुष्य ऊंच हुए या शास्त्र? जरूर सुनाने वाले ऊंच ठहरे ना। लिखने वाले तो हैं मनुष्य। व्यास ने लिखा वह भी मनुष्य था ना। यह तो निराकार बाप बैठ समझाते हैं। धर्म स्थापकों ने जो आकर के सुनाया उसका फिर बाद में शास्त्र बनता है। जैसे गुरुनानक ने सुनाया, बाद में ग्रंथ बनता है। तो जिसने सुनाया उसका नाम हो गया। गुरुनानक ने भी उनकी महिमा गाई है – सबका बाप वह एक है। बाप कहते हैं जाकर धर्म स्थापन करो। यह बेहद का बाप कहते हैं मुझे तो कोई भेजने वाला नहीं। शिवबाबा खुद बैठ समझाते हैं वह हैं मैसेज ले आने वाले, मुझे कोई भेजने वाला नहीं। मुझे मेसेन्जर वा पैगम्बर नहीं कहेंगे। मैं तो आता हूँ बच्चों को सुख-शान्ति देने। मुझे कोई ने कहा नहीं, मैं तो खुद मालिक हूँ। मालिक को भी मानने वाले होते हैं, परन्तु उनसे पूछना चाहिए कि तुमने मालिक का अर्थ समझा है। वह मालिक है, हम उनके बच्चे हैं तो जरूर वर्सा मिलना चाहिए। बच्चे कहते हैं – हमारा बाबा। तो बाप के धन के तुम मालिक हो। “मेरा बाबा” बच्चे ही कहेंगे। मेरा बाबा तो फिर बाबा का धन भी मेरा। अभी हम क्या कहते हैं? हमारा शिवबाबा। बाप भी कहेंगे यह हमारे बच्चे हैं। बाप से बच्चों को वर्सा मिलता है। बाप के पास प्रापर्टी होती है। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का रचयिता। भारतवासियों को भी प्रापर्टी किससे मिलती है? शिवबाबा से। शिव जयन्ती भी मनाते हैं। शिव जयन्ती के बाद फिर होगी कृष्ण जयन्ती, फिर रामजयन्ती। बस, मम्मा-बाबा की जयन्ती वा जगदम्बा की जयन्ती तो कोई गाते नहीं। शिव-जयन्ती फिर राधे-कृष्ण की जयन्ती फिर राम-सीता जयन्ती।

जब शिवबाबा आये तब शूद्र राज्य विनाश हो। यह राज़ भी कोई समझते नहीं। बाप बैठ समझाते हैं। वह आते हैं जरूर। बाप को क्यों बुलाते हैं? श्री कृष्णपुरी स्थापन करने। तुम जानते हो शिवजयन्ती बरोबर होती है। शिवबाबा नॉलेज दे रहे हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। शिवजयन्ती है बड़े ते बड़ी जयन्ती। फिर है ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। अब प्रजापिता ब्रह्मा तो मनुष्य सृष्टि में है। फिर रचना में मुख्य है लक्ष्मी-नारायण। तो शिव है मात-पिता, फिर मात-पिता ब्रह्मा और जगत अम्बा भी आ जाते हैं। यह समझने और धारण करने की बातें हैं। पहले-पहले समझाना है – बाप परमपिता परमात्मा आते हैं पतितों को पावन करने। वह नाम-रूप से न्यारा हो तो उनकी जयन्ती कैसे हो सकती। गॉड को फादर कहा जाता। फादर को तो सब मानते हैं। निराकार है ही आत्मा और परमात्मा। आत्माओं को साकार शरीर मिलता है, यह बड़ी समझने की बातें हैं। जो कुछ भी शास्त्र आदि नहीं पढ़ा हुआ हो तो उसके लिए और ही सहज है। आत्माओं का बाप वह परमपिता परमात्मा स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। स्वर्ग में होती है राजाई, तो जरूर उनको संगम पर आना पड़े। सतयुग में तो आ न सके। वह प्रालब्ध, 21 जन्मों का वर्सा संगम पर ही मिलता है। यह संगमयुग है ब्राह्मणों का। ब्राह्मण हैं चोटी, फिर है देवताओं का युग। हरेक युग 1250 वर्ष का है। अभी 3 धर्म स्थापन होते हैं – ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय क्योंकि फिर आधा कल्प कोई धर्म नहीं होता। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी पूज्य थे फिर पुजारी बन जाते हैं। वह ब्राह्मण तो किस्म-किस्म के होते हैं।

अभी तुम अच्छे कर्म कर रहे हो जो फिर सतयुग में प्रालब्ध पाओगे। बाप अच्छे कर्म सिखलाते हैं। तुम जानते हो हम श्रीमत पर जैसे कर्म करेंगे, औरों को आप समान बनायेंगे तो उसकी प्रालब्ध मिलेगी। अभी सारी राजधानी स्थापन होती है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की राजधानी होती है। यह है प्रजा का प्रजा पर राज्य। पंचायती राज्य है, अनेक पंच हैं। नहीं तो 5 पंच होते हैं। यहाँ तो सब पंच ही पंच हैं। सो भी आज हैं, कल नहीं। आज मिनिस्टर हैं, कल उनको उतार देते हैं। एग्रीमेंट कर फिर कैन्सिल कर देते हैं। यह है अल्पकाल का क्षण भंगुर राज्य। किसको भी उतारने में देरी नहीं करते हैं। कितनी बड़ी दुनिया है। अखबारों से कुछ ना कुछ पता पड़ता है। इतने सब अखबार तो कोई पढ़ नहीं सकता। हमको इस दुनिया के समाचार की दरकार ही नहीं। यह तो जानते हैं देह सहित सब कुछ इस दुनिया का ख़त्म हो जाने वाला है। बाबा कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो तो तुम मेरे पास आ जायेंगे। मरने के बाद सारा साक्षात्कार होगा। शरीर छोड़कर फिर आत्मा भटकती भी है। उस समय भी हिसाब-किताब भोग सकते हैं। साक्षात्कार सब होता है। अन्दर ही साक्षात्कार करते हैं, भोगना भोगते हैं, बहुत पछताते हैं कि हमने नाहेक ऐसा किया। पश्चाताप होता है ना। कोई जेल बर्ड होते हैं, वह कहते हैं जेल में खाना तो मिलेगा। मतलब खाना खाने से काम है, इज्जत की परवाह नहीं करते। तुमको तो कोई तकल़ीफ नहीं। बाप है तो बाप की श्रीमत पर चलना है। ऐसे भी नहीं, किसको दु:ख देंगे। वह तो है ही सुखदाता। आज्ञाकारी बच्चे तो कहेंगे बाबा जो आप डायरेक्शन देंगे। तुम्हीं से बैठूं…….. यह शिवबाबा के लिए गाया हुआ है। भागीरथ अथवा नंदीगण भी मशहूर है। लिखा हुआ है ना माताओं के सिर पर कलष रखा। तो वह फिर गऊ दिखाते हैं। क्या-क्या बातें बना दी हैं।

इस दुनिया में कोई एवरहेल्दी हो नहीं सकता। अनेक प्रकार के रोग हैं। वहाँ कोई रोग नहीं है। न कभी अकाले मृत्यु होती है। समय पर साक्षात्कार होता है। बुढ़ों को तो खुशी होती है। बुढ़े जब होते हैं तो खुशी से शरीर छोड़ते हैं। साक्षात्कार होता है कि हम जाकर बच्चा बनूँगा। अभी तुम जवानों को भी इतनी खुशी है कि हम शरीर छोड़ जाकर प्रिन्स बनेंगे। बच्चे हो वा जवान हो, मरना तो सबको है ना। तो सबको यह नशा रहना चाहिए कि हम जाकर प्रिन्स बनेंगे। जरूर जब सर्विस करो तब तो बनो। खुशी होनी चाहिए – अभी हम पुराना शरीर छोड़ बाबा के पास जायेंगे, बाबा फिर हमको स्वर्ग में भेज देंगे। सर्विस करनी चाहिए। बच्चों ने गीत सुना। बन्सी वाला कृष्ण तो है नहीं। मुरली तो बहुतों के पास होती है। बहुत अच्छी-अच्छी बजाते हैं। इसमें मुरली की बात नहीं। तुम तो कहते हो श्रीमत एक बाप ही देते हैं। श्रीकृष्ण में तो यह नॉलेज थी ही नहीं। यह सहज राजयोग और ज्ञान उसमें था ही नहीं। उसने राजयोग सिखलाया नहीं है। वह तो राजयोग सीखा है बाप के द्वारा। कितनी बड़ी बात है। जब तक कोई बच्चा नहीं बनता तब तक समझ भी नहीं सकता और इसमें फिर श्रीमत पर चलने की बात है। अपनी मत पर चलने से थोड़ेही ऊंच पद पा सकेंगे। बाप को जो जानते हैं वह बाप का परिचय औरों को भी देंगे। बाप और रचना का परिचय देना है। किसको बाप का परिचय नहीं देते तो गोया खुद जानते नहीं। अपने को नशा चढ़ा हुआ है तो औरों को भी चढ़ाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर सदा श्रेष्ठ कर्म करने हैं। दूसरों की मत के प्रभाव में नहीं आना है। सपूत बन हर आज्ञा का पालन करना है। जो बात समझ में नहीं आती है, उसे वेरीफाय जरूर कराना है।

2) सदा इसी नशे वा खुशी में रहना है कि हम यह पुराना शरीर छोड़ प्रिन्स बनेंगे। नशे में रह ईश्वरीय सेवा करनी है।

वरदान:- सदा अपनी श्रेष्ठ शान में रह परेशानियों को मिटाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान भव
सदा यह वरदान स्मृति में रहे कि हम अपनी श्रेष्ठ शान में रहने वाले औरों की भी परेशानी को मिटाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान हैं। कमजोर नहीं। श्रेष्ठ शान के तख्तनशीन हैं। जो अकालतख्तनशीन, बाप के दिल तख्तनशीन श्रेष्ठ शान में रहने वाले हैं, वे स्वप्न में भी कभी परेशान नहीं हो सकते। कोई कितना भी परेशान करे लेकिन अपनी श्रेष्ठ शान में ही रहते हैं।
स्लोगन:- सदा अपने स्वमान में रहो तो सर्व का मान मिलता रहेगा।

TODAY MURLI 24 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 November 2017 :- Click Here

24/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, bugles (shehnai – musical instrument specially played on happy occasions) of happiness should now be playing in your hearts because the Father has come to put His hand in your hands and take you back with Him. Your days of happiness are now about to come.
Question: Now that the sapling of the new tree is being planted, what should you definitely be cautious about?
Answer: Many storms come to a new tree. Such storms come that all the flowers and fruit fall. Here, too, the sapling of the new tree that is being planted will be shaken with great force by Maya. Many storms will come. Maya will make your intellects have doubts. If there isn’t remembrance of the Father in your intellect, you wilt and fall. This is why Baba says: Children, in order to be safe from Maya, put a bead in your mouth, that is, do your business etc., but continue to keep the Father in your intellect. This requires effort.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. You children have great faith that Baba comes to make the world new and to purify us who are impure. It isn’t that the world doesn’t exist and that the Father comes and creates it. You call out to the Father to come and purify you all because you are impure. The world exists anyway. He makes the old world new. This knowledge is for human beings, not for animals, because human beings study and claim a status. Now, the paraphernalia that causes sorrow includes everything –bodies, bodily religions etc. The Father changes this paraphernalia of sorrow into happiness and that is why the Father has said: I make this land of sorrow into the land of happiness. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Bugles of happiness should now be playing inside you because your days of happiness are coming in front of you. You know that you meet the Father after a cycle. No one can say this of anyone else. God comes to grant salvation to the devotees. I put My hand in your hands and take you back with Me. It isn’t that I take you to the land of happiness and leave you. No, according to the effort you make at this time, you automatically go and experience your reward there. The more you explain to others, the more the drama continues to become firm for them. When people have seen a drama (film), it remains very clear for them for a few days. So, too, this becomes firm for you because this is the unlimited drama. You have the drama from the golden age until this time in your intellects. When you go to the centres, you are cautioned and so you remember this. Even while you are sitting here, you remember that the world is an unlimited drama. However, this is a matter of just a second. When it is explained, the drama quickly enters your intellects. You know who comes and establishes the dharma (religion). To remember the incorporeal world is also a matter of just a second. The second number is the subtle region. There, too, it is not a big thing because only Brahma, Vishnu and Shankar are shown there. That also quickly enters your intellects. Then, there is the physical world. The cycle of four ages is included in that. This is the Father’s creation. It isn’t that you only remember heaven; no. Your intellects have the secrets of the drama from heaven until the end of the iron age. Therefore, you have to explain to others. All of you should have these pictures of the tree and the cycle in your homes and you should then explain to anyone who comes. You have to become merciful and great donors. These are called the imperishable jewels of knowledge. It is at this time that you become wealthy for the future. The Father Himself now says: Forget everything you have studied and heard until now. When a person dies, he forgets everything. So, here, too, you die alive. The Father says: Only remember whatever I tell you about the new world. We are now to go to the land of immortality and are listening to the story of immortality from the Lord of Immortality. When someone asks you when the land of death begins, tell him it begins when Ravan’s kingdom begins. When does the land of immortality begin? It begins when the kingdom of Rama begins. The paraphernalia of devotion has spread just as a tree spreads. The sapling of the new tree is now being planted. Therefore, just see how such a new tree experiences so many storms of Maya. When storms come, go into the garden and see how many flowers and fruit have fallen. A few remain safe. It is the same here; when there are storms of Maya, you wilt because of not staying in remembrance of Baba; some just fall. There is the game of ‘hatamtai’ in which they put a bead in their mouths. If you keep Baba in your intellects, you won’t be affected by Maya. Baba doesn’t tell you not to do any business etc. While doing your business, remember the Father. This requires effort. It is not a small thing to claim a kingdom! When someone claims a limited kingdom, he has to make so much effort. However, here, you are claiming a kingdom of the golden age. Therefore, you surely have to make effort. God is called the Ocean of Knowledge, not Janijananhar (One who knows everything inside each one). Janijananhar means a thought reader, that is, someone who knows what is inside each of you. In fact, that too is an occult power. There is no attainment from that. If you are dangling upside-down, there is no attainment in that either. Nowadays, people even walk on fire. There was a sannyasi who walked on fire. They heard that Sita had to go through fire and so they also do that. All of those are tall stories. They say that the scriptures are eternal. Since when? There is no date for them. There are dates for all the other religions and you can make those calculations. For instance, they say that 3000 years before Christ, Bharat was heaven. However, they don’t know what existed in heaven. You have the secrets of the tree in your intellects. You can speak about how the foundation of this tree was laid and how it then grew. When a flower vase is arranged, the flowers are placed at the top. It is the same here. First of all, there is the trunk of the deity religion and then all the religions emerge from the trunk, that is, they show the flowers of their people. Just think about it: when all the religions existed, it was a garden of flowers. The stage of falling comes later; that is, there is first the golden, then the silver, then the copper and now you are in the iron age. You should have the study in your intellects. The knowledgefull Father sits here and gives you the full knowledge of the tree and the drama. That is why God is called the Ocean of Knowledge and the Seed. He is the Seed of the human world tree and He resides up above. The incorporeal world of souls is called Brahmand, brahm lok, where egg-shaped souls live. You even have visions of a soul in the form of a point. When fireflies all fly together they sparkle, but that light is still less. So, souls will also all fly together. Such a tiny point has a part of 84 births recorded within him. Baba gives you a vision of the whole drama in which souls are actors, yet the actors don’t know about this drama. You first have to remember Baba and then the knowledge. The knowledge of a second is very simple. However, when did it begin? Because you forget, you have to go into expansion. There are many obstacles of Maya. There is even physical illness. Previously, you would never have had fever but if, after coming into knowledge, you develop fever, you develop doubts, because you think that, after coming into knowledge, all your bondages should end. However, Baba says: These illnesses will come even more strongly. You have to settle your karmic accounts. People in devotion wear a ring of nine jewels. They have a valuable jewel in the centre and around it less valuable jewels. Some jewels cost 1000 rupees and others cost 100. Baba says: This life of yours is as valuable as a diamond. Therefore, you should take birth in the sun dynasty. There will be so much difference between the empress and emperor of the golden age and the kings and queens at the end of the silver age. You also have to explain this story of the drama to others: “Come inside and we will explain to you how 5000 years ago there was a beautiful kingdom of deities. How did they attain their status? We will tell you the story of the history and geography of the 84 births of Lakshmi and Narayan and how they ruled the kingdom in the golden age.” You should offer such temptation to people and bring them inside. It is a story of just a second, but it is worth multimillions. You can go anywhere. Go to collegesuniversities and hospitals and tell them: “You fall ill so much. We will give you such medicine that you will not fall ill for 21 births. You must have heard that God said: Manmanabhav! If you remember the Father, your sins will be absolved and you will not commit any further sins. You will then become ever healthy and wealthy. Come and we will tell you the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul. To say that God is omnipresent is not His biography.” You should explain in this way. Achcha. Today is the day for bhog. (Song: The sky calls out to the earth). This is called the old, false world. It is called the extreme depths of hell. The song is also good in that it says: He has to come here, into this world of love. There is also love in the subtle region. People go into trance in great happiness. In the golden age, there is happiness. Here, there is nothing. Therefore, you should have disinterest in this old world. Sannyasis have limited disinterest, whereas yours is unlimited disinterest. You have to forget the whole world. Baba wrote a letter to Bombay. Baba doesn’t just tell the children of Bombay, but Baba advises the children at all the centres. You have to give lectures in the mornings and evenings. In every city they have big halls, and many of you have friends and relatives. Therefore, you have to advertise that you want to give the introduction of the Supreme Father, the Supreme Soul, so that everyone can claim their birthright from God. We want the hall for only an hour and a half in the morning and an hour and a half in the evening. We won’t make any trouble. There won’t be any bands or harmoniums etc. If anyone gives this, we can take it on rent. You also have to look at the area. You have to see that the building is good too. A good person would bring good seekers with him. You should hold lectures in four or five such places. In big cities, if you can’t get the first floor, take the second floor. Otherwise, under desperate circumstances, you can also take the third floor. Do the same in villages. According to the village, it may even be a small building. You don’t need a whole building; you just need three feet of land. All of you should continue to speak to your relatives and someone or other will give this to you. So, continue to open centres in this way. Some won’t even take rent from you. While taking rent from you, if they are shot by an arrow, they would stop taking anything from you. Those who have broad intellects will be able to understand and imbibe very well. Those who have broad intellects are called maharathis: they will continue to open centres, one after another. You children know that you are establishing your kingdom in an incognito way by following shrimat. No one else can know how you are establishing it. You simply have to remain pure. Baba has said: Maya has caused you sorrow. Therefore, let go of her. Become those who conquer Maya and thereby become conquerors of the world. It is not a question of conquering your mind. The mind remains peaceful in the land of peace. Here, you have a body and so it cannot remain quiet. So the supreme abode is the land of peace. Here, (in Madhuban) you are given an explanation and so you think about it. There, someone would to go a centre, listen to the discourse and then become engaged in their work and everything would end. Here, everything remains fresh and this is why children come here to be refreshed. It doesn’t remain in the intellects of people of the world that Bharat is the birthplace of God. Here, when you hear this, that you will shed your bodies and go to the land of immortality you become intoxicated. In the golden age, you won’t say that so-and-so has died; no. When someone sheds an old costume, he takes a new one and remains happy. Bands will play. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have disinterest in this unlimited world and remove it from your intellect. Imbibe the imperishable jewels of knowledge and become wealthy for the future.
  2. Only remember the things about the new world that the Father tells you. Forget everything else you have studied. Die alive in this way.
Blessing: May you be a true tapaswi who makes your mind and intellect sit on the seat of a constant and stable stage.
Tapaswis are always seated on a special seat. They do tapasya seated on one or another seat. The seat for you tapaswi children is your constant and stable stage, your angelic stage. Do tapasya while remaining stable on the seat of these elevated stages. Just as the body is seated on a physical seat, in the same way, make your mind and intellect sit on the seat of an elevated stage, and remain seated on that seat for as long as you want whenever you want. Those who sit on the seat of an elevated stage at this time claim the throne of a kingdom in the future.
Slogan: To unite your ideas with the ideas of others and give everyone regard is the means to be respected.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 23 November 2017 :- Click Here
24/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अब तुम्हारी दिल में खुशी की शहनाई बजनी चाहिए क्योंकि बाप आये हैं हाथ में हाथ देकर साथ ले जाने, अब तुम्हारे सुख के दिन आये कि आये”
प्रश्नः- अभी नये झाड़ का कलम लग रहा है इसलिए कौन सी खबरदारी अवश्य रखनी है?
उत्तर:- नये झाड़ को तूफान बहुत लगते हैं। ऐसे-ऐसे तूफान आते हैं जो सब फूल फल आदि गिर जाते हैं। यहाँ भी तुम्हारे नये झाड़ का जो कलम लग रहा है उसे भी माया जोर से हिलायेगी। अनेक तूफान आयेंगे। माया संशयबुद्धि बना देगी। बुद्धि में बाप की याद नहीं होगी तो मुरझा जायेंगे, गिर भी पड़ेंगे इसलिए बाबा कहते बच्चे माया से बचने के लिए मुख में मुहलरा डाल दो अर्थात् धंधा आदि भल करो लेकिन बुद्धि से बाप को याद करते रहो। यही है मेहनत।
गीत:- ओम् नमो शिवाए ….

ओम् शान्ति। तुम बच्चों को अच्छी तरह निश्चय हो गया है कि बाबा आकर नई दुनिया रचते हैं जो हम पतित हैं उनको पावन बनाने। ऐसे नहीं कि सृष्टि है नहीं और बाप आकर रचते हैं। बाप को बुलाते हैं कि हम जो पतित हैं उनको आकर पावन बनाओ। दुनिया तो है ही। बाकी पुरानी को नई करते हैं। यह ज्ञान मनुष्यों के लिए है, जानवरों के लिए नहीं है क्योंकि मनुष्य पढ़कर मर्तबा पाते हैं। अभी जो दु:ख देने की सामग्री है, इसमें सब आ गये – देह, देह के धर्म आदि। तो बाप इस दु:ख की सामग्री को सुख का बनाते हैं तब बाप ने कहा है मैं दु:खधाम को सुखधाम बनाता हूँ, मैं हूँ ही दु:खहर्ता सुखकर्ता। अब तुम्हारे अन्दर शहनाई बजनी चाहिए कि हमारे सुख के दिन सामने आ रहे हैं। जानते हो कि बाप कल्प के बाद मिलते हैं और कोई ऐसे किसके लिए नहीं कहते। भगवान आते ही हैं भक्तों की सद्गति करने। अपने साथ हाथ में हाथ देकर ले चलता हूँ। ऐसे नहीं कि सुखधाम में जाकर तुमको छोड़ता हूँ। नहीं, इस समय के पुरूषार्थ अनुसार आपेही जाकर प्रालब्ध भोगते हो। जितना जो औरों को समझाते हैं उतना उनको ड्रामा पक्का हो जाता है। मनुष्य कोई ड्रामा देखकर आते हैं तो कुछ दिन तक पक्का हो जाता है। तो तुमको यह भी पक्का हो जाता है क्योंकि यह बेहद का ड्रामा है। सतयुग से लेकर इस समय तक ड्रामा बुद्धि में है। सेन्टर पर आते हैं तो सावधानी मिलती है। तो यह याद आ जाता है। यहाँ भी बैठे हो तो याद है। सृष्टि तो बेहद का ड्रामा है। परन्तु है सेकेण्ड का काम। समझाते हैं तो झट ड्रामा बुद्धि में आ जाता है। जानते हैं कि कौन-कौन आकर धर्म स्थापन करते हैं। मूलवतन को याद करना भी सेकेण्ड का काम है। दूसरा नम्बर है सूक्ष्मवतन। तो वहाँ भी कोई बड़ी बात नहीं है क्योंकि वहाँ भी सिर्फ ब्रह्मा, विष्णु, शंकर दिखाया है। वह भी झट बुद्धि में आ जाता है। फिर है स्थूलवतन। इसमें 4 युगों का चक्र आ जाता है। यह है बाप की रचना, ऐसे नहीं कि सिर्फ तुम स्वर्ग को याद करते हो। नहीं, स्वर्ग से लेकर कलियुग अन्त तक का तुम्हारी बुद्धि में राज़ है तो तुमको औरों को भी समझाना है। यह झाड और गोले (सृष्टि पा) का चित्र सबके घर में रहना चाहिए। जो कोई आवे उनको बैठ समझाना चाहिए। रहमदिल और महादानी बनना है इसको अविनाशी ज्ञान रत्न कहा जाता है। इस समय तुम भविष्य के लिए धनवान बनो।

बाप समझाते हैं बच्चे अब तक तुमने जो कुछ पढ़ा और सुना है उन सबको भूल जाओ। मनुष्य मरने समय सब कुछ भूल जाते हैं ना। तो यहाँ भी तुम जीते जी मरते हो। तो बाप कहते हैं मैं नई दुनिया के लिए जो बातें सुनाता हूँ वही याद करो। अभी हम अमरलोक में जाते हैं और अमरनाथ द्वारा अमरकथा सुन रहे है। कोई पूछते हैं मृत्युलोक कब शुरू होता है? बोलो, जब रावण राज्य शुरू होता है। अमरलोक कब शुरू होता है? जब रामराज्य शुरू होता है। भक्ति की सामग्री तो ऐसे फैली है जैसे झाड़ फैला हुआ हो। अब नये झाड़ का कलम लग रहा है तो ऐसे झाड़ को माया के तूफान देखो कितने लगते हैं। जब तूफान लगता है तो बगीचे में जाकर देखो कितने फल फूल गिरे हुए होते हैं। थोड़े बच जाते हैं। यहाँ भी ऐसे है कि माया के तूफान आने से और बाबा की याद न रहने से मुरझा जाते हैं। कोई तो गिर पड़ते हैं। हातमताई का खेल है ना कि मुख में मुहलरा डालते थे। अगर बुद्धि में बाबा याद हो तो माया का असर नहीं होता है। बाबा यह थोड़ेही कहते हैं कि धन्धा आदि न करो। धन्धा आदि करते बाप को याद करो – इसमें मेहनत है। राजाई लेना, कोई कम बात है क्या! कोई हद की राजाई लेते हैं तो भी कितनी मेहनत करनी पड़ती है। यह तो सतयुग की राजाई लेते हो। मेहनत जरूर करनी पड़े। परमात्मा को ज्ञान का सागर कहा जाता है, जानी जाननहार नहीं। जानी-जाननहार माना थॉट रीडर, यानी अन्दर को जानने वाला। वास्तव में यह भी एक रिद्धि-सिद्धि है, उससे प्राप्ति कुछ नहीं। अगर उल्टा भी लटक जायें तो भी प्राप्ति कुछ नहीं। आजकल तो आग से भी पार करते हैं। एक सन्यासी था उसने आग से पार किया। सुना है सीता ने आग से पार किया तो यह भी आग से पार करते हैं। अब यह सब दन्त कथायें हैं। वह कह देते शास्त्र अनादि हैं। कब से? तारीख तो कोई है नहीं। दूसरे धर्मों की तारीख है, उससे हिसाब लगाया जा सकता है। जैसे कहते हैं क्राइस्ट के 3000 वर्ष पहले भारत हेविन था। परन्तु हेविन में क्या था, यह नहीं जानते। झाड़ का राज़ तुम्हारी बुद्धि में है। तुम वर्णन कर सकते हो कि इस वृक्ष का फाउन्डेशन कैसे लगा, फिर कैसे वृद्धि को पाया। जब फ्लावरवाज़ (फूलदान) बनाते हैं, तो ऊपर में फूल बनाते हैं। यह भी ऐसे है। पहले देवी-देवता धर्म का तना था। पीछे यह सब धर्म तने से निकलते हैं अर्थात् उनकी प्रजा का फ्लावर दिखाते हैं। अब विचार करो हर एक धर्म जब आता है तो फूलों का बगीचा था। गिरती कला पीछे आती है अर्थात् पहले गोल्डन, सिल्वर, कॉपर अब आइरन में हैं। पढ़ाई तुम्हारी बुद्धि में होनी चाहिए। नॉलेजफुल बाप बैठ वृक्ष और ड्रामा का फुल नॉलेज देते हैं। इस कारण परमात्मा को ज्ञान का सागर, बीजरूप कहा जाता है। यह मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है जो ऊपर में रहता है। जो इनकारपोरियल वर्ल्ड आत्माओं की है, उनको ब्रह्माण्ड, ब्रह्म लोक कहते हैं। जहाँ आत्मायें अण्डे मिसल रहती हैं। साक्षात्कार भी करते हैं आत्मा बिन्दी रूप है। जैसे फायरफ्लाई जब इकट्ठे उड़ती हैं तो जगमग होती है, परन्तु वह लाइट कम है। तो आत्मायें भी इकट्ठी उड़ेंगी। इस छोटी सी बिन्दी में 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। बाबा तुमको सारे ड्रामा का साक्षात्कार कराते हैं। जिस ड्रामा के अन्दर आत्मा एक्टर है और एक्टर्स को इस ड्रामा का पता नहीं है। तुमको याद करना है एक बाबा को, दूसरा नॉलेज को। ज्ञान तो सेकेण्ड का बहुत सिम्पल है। परन्तु ज्ञान शुरू कब से हुआ, विस्तार करना पड़ता है क्योंकि भूल जाता है। माया के विघ्न भी पड़ते हैं। शारीरिक बीमारी आ जाती है। आगे कभी बुखार नहीं हुआ होगा, ज्ञान में आने के बाद बुखार हो जाता है तो सशंय पड़ जाता है कि ज्ञान में तो बंधन खलास होने चाहिए। परन्तु बाबा तो कह देते यह बीमारी और आयेंगी, हिसाब-किताब भी चुक्तू करना है।

भक्ति में मनुष्य 9 रत्नों की अंगूठी पहनते हैं। बीच में वैल्युबुल रत्न लगाते हैं। आजूबाजू कम कीमत वाले। कोई रत्न हजार वाला होता है, कोई 100 वाला …… बाबा कहते हैं कि यह हीरे जैसी अमूल्य जीवन है। तो सूर्यवंशी में जन्म लेना चाहिए। सतयुग का महाराजा, महारानी और त्रेता के अन्त का राजा रानी कितना फ़र्क होगा। यह ड्रामा की कहानी औरों को भी समझानी है। आओ तो हम आपको समझायें कि 5 हजार वर्ष पहले एक बहुत अच्छा देवताओं का राज्य था। उन्होंने यह पद कैसे पाया! लक्ष्मी-नारायण जो सतयुग की राजाई लेते हैं, उन्हों के 84 जन्मों की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुनायें। ऐसे-ऐसे टेम्पटेशन (प्रलोभन) देकर उन्हों को अन्दर ले आना चाहिए। सेकेण्ड की कहानी है। परन्तु है पदमों की। कहाँ भी तुम जा सकते हो। कॉलेज में, युनिवर्सिटी में, हॉस्पिटल में जाओ तो कहना चाहिए कि तुम कितना बीमार पड़ते हो। हम आपको ऐसी दवाई देंगे जो 21 जन्म बीमार ही नहीं पड़ेंगे। आपने सुना है कि परमात्मा ने कहा है मनमनाभव। तुम बाप को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे और कोई नये विकर्म होंगे ही नहीं। तुम एवरहेल्दी, वेल्दी बन जायेंगे। आओ तो हम परमपिता परमात्मा की बायोग्राफी बतायें। परमात्मा को सर्वव्यापी कहना कोई यह बायोग्राफी थोड़ेही है। ऐसे-ऐसे समझाना चाहिए।

अच्छा – आज तो भोग है। गीत:- धरती को आकाश पुकारे… इसको कहा जाता है पुरानी झूठी दुनिया। इसको रौरव नर्क कहा जाता है। गीत भी अच्छा है कि आना ही होगा, प्रेम की दुनिया में। सूक्ष्मवतन में भी प्रेम है ना। देखो ध्यान में खुशी-खुशी जाते हैं। सतयुग में भी सुख है, यहाँ तो कुछ नहीं है। तो इस दुनिया से वैराग्य आना चाहिए। सन्यासियों का तो है हद का वैराग्य। तुम्हारा तो है बेहद का वैराग्य। तुम्हें तो सारी दुनिया को भुलाना है। बाबा ने बाम्बे में एक पत्र लिखा था। बाबा सिर्फ बाम्बे वालों को ही नहीं कहते परन्तु सब सेन्टर्स वालों के लिए बाबा की राय निकलती है। तुमको भाषण करना होता है सुबह और शाम को। तो हर एक शहर में बड़े-बड़े हाल तो होते ही हैं और बहुतों के मित्र-संबंधी भी होते हैं, तो एडवरटाइज़ करनी है कि हमको परमपिता परमात्मा का परिचय देना है। ताकि सभी परमात्मा से अपना बर्थराइट ले सकें। हमको सिर्फ डेढ़ घण्टा सुबह, डेढ़ घण्टा शाम के लिए हाल चाहिए। कोई हंगामा नहीं होगा, बाजा-गाजा नहीं। तो कोई वाजिब किराये पर देवे तो हम ले सकते हैं। एरिया को भी देखना है, घर को भी देखना है कि अच्छा है। अच्छा आदमी होगा तो अच्छे जिज्ञासुओं को लेकर आयेगा। ऐसे-ऐसे 4-5 जगह भाषण करना चाहिए। बड़े-बड़े शहरों में अगर फर्स्ट फ्लोर न मिले तो सेकेण्ड फ्लोर, नहीं तो लाचारी हालत में थर्ड फ्लोर भी ले सकते हो। ऐसे ही गाँव-गाँव में भी। जैसा गाँव हो। भले कोई छोटा मकान हो। पूरा मकान तो चाहिए नहीं। सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। सबको अपने सम्बन्धियों से बात करते रहना चाहिए तो कोई न कोई दे देंगे। तो ऐसे सेन्टर्स खोलते रहना चाहिए। कोई तो किराया भी नहीं लेंगे। और कोई लेते-लेते अगर तीर लग गया तो वह भी लेना बन्द कर देंगे। जो विशालबुद्धि होंगे वह अच्छा समझकर धारण करेंगे। जिनकी विशालबुद्धि है, उनको महारथी कहा जाता है। वह तो एक दो के पिछाड़ी सेन्टर्स खोलते जायेंगे। बच्चे जानते हैं कि हम अपना राज्य श्रीमत पर गुप्त ही गुप्त स्थापन कर रहे हैं। और कोई जान नहीं सकते कि कैसे स्थापन करते हैं? बस पवित्र रहना है। तो बाबा ने कहा है कि माया ने दु:ख दिया है, इसको छोड़ो। माया जीते जगतजीत बनो। मन को जीतने की बात नहीं। मन तो शान्त, शान्तिधाम में रहता है। यहाँ शरीर है तो शान्त रह न सके। तो शान्तिधाम है परमधाम। यहाँ समझानी मिलती है तो चिन्तन भी चलता रहे। वहाँ सेन्टर पर आया, कथा सुनी और धन्धे में लग गये खलास। यहाँ ताजा-ताजा रहता है इसलिए बच्चे रिफ्रेश होने के लिए आते हैं। दुनिया वालों की बुद्धि में नहीं रहता कि भारत परमात्मा का बर्थ प्लेस (जन्म-स्थान) है। यहाँ सुनने से तुमको नशा रहता है कि हम शरीर छोड़ अमरलोक में जायेंगे। सतयुग में यह नहीं होगा कि फलाना मर गया। नहीं, जब पुराना चोला छोड़ेंगे, नया लेंगे तो खुशी होगी ना। बाजा बजेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस बेहद की दुनिया से वैराग्य रख इसे बुद्धि से भूलना है। अविनाशी ज्ञान रत्न धारण कर भविष्य के लिए धनवान बनना है।

2) नई दुनिया के लिए बाप जो बातें सुनाते हैं वह याद रखनी है। बाकी सब पढ़ा हुआ भूल जाना है, ऐसा जीते जी मरना है।

वरदान:- एकरस स्थिति के आसन पर मन-बुद्धि को बिठाने वाले सच्चे तपस्वी भव 
तपस्वी सदा आसनधारी होते हैं, वे कोई न कोई आसन पर बैठकर तपस्या करते हैं। आप तपस्वी बच्चों का आसन है – एकरस स्थिति, फरिश्ता स्थिति। इन्हीं श्रेष्ठ स्थितियों के आसन पर स्थित होकर तपस्या करो। जैसे स्थूल आसन पर शरीर बैठता है ऐसे श्रेष्ठ स्थिति के आसन पर मन-बुद्धि को बिठा दो और जितना समय चाहो, जब चाहो-आसन पर बैठ जाओ। इस समय श्रेष्ठ स्थिति के आसन पर बैठने वालों को भविष्य में राज्य का सिंहासन प्राप्त होता है।
स्लोगन:- दूसरे के विचारों को अपने विचारों से मिलाकर सर्व को सम्मान देना ही माननीय बनने का साधन है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize