daily murli 24 may

TODAY MURLI 24 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 May 2020

24/05/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/01/86

An inexpensive bargain and a budget of savings

The Father, the Jewel Merchant, is smiling seeing His children who are the businessmen who make the greatest bargain of all. This bargain is so huge yet, when compared to the world, those who make this bargain are ordinary and innocent. Which souls become the fortunate souls who make a bargain with God? The Father was seeing this and smiling. You make such a huge bargain in one birth and you become constantly prosperous for 21 births. What do you give and what do you receive? You earn an income of countless multimillions and make a bargain of multimillions so easily. In fact, it only takes a second to make this bargain. How inexpensive was the bargain you made? You made a bargain in a second with one expression: You accepted with your heart: My Baba! With this one expression, you make a bargain of such huge, countless treasures. It is an inexpensive bargain, is it not? It is neither hard nor expensive, and you don’t have to give time. When you make limited bargains, you have to give so much time. You also have to make effort and it also gets more expensive day by day. How long would it last? You can’t guarantee it for even one birth. So, have you made an elevated bargain or are you thinking about doing that? You have made a firm business deal, have you not? BapDada was looking at His children who are the businessmen and seeing who are well-known in the list of businessmen. People of the world make a list of those who are well-known, do they not? They make a special directory. Whose names are mentioned in the Father’s directory? Those to whom the eyes of the world are not drawn are the ones who have made a bargain with the Father and they have become the stars of God’s eyes, the lights of God’s eyes. He made souls who had no hope into special souls. Do you always have the intoxication of being such special VIPs in God’s directory? This is why it is remembered that God belongs to the innocent ones. He is the Cleverest of All, but He loves those who are innocent. The Father doesn’t like the clever extroverts of the world. Their kingdom is in the ironage where they are millionaires one moment and have nothing the next. However, all of you become multimillionaires for all time. It is not a kingdom of fear. It is fearless.

In today’s world there is wealth and also fear. The more wealth they have, the more they eat in fear and sleep in fear, whereas you become carefree emperors; you become fearless. It is said that fear is an evil spirit. You become liberated from that evil spirit. You have become liberated, have you not? Do you have any fear? Where there is the consciousness of “mine”, there will definitely be fear. “My Baba!” It is Shiv Baba alone who makes you fearless. If there is anything, even a golden deer, apart from Him, which is “mine”, then there would be fear. So, check that no sanskar of “mine, mine” is still left in your Brahmin life, even in a subtle form. You are celebrating the Silver Jubilee and the Golden Jubilee. Silver and gold become real when you melt them in a fire and remove whatever has become mixed in them. This is the real Silver Jubilee and the real Golden Jubilee, is it not? So, in order to celebrate the jubilee, you will have to become real silver and real gold. It isn’t that those who are celebrating the Silver Jubilee are just silver. It is in terms of the number of years that you say that it is the Silver Jubilee. However, all of you are those who belong to the golden age and have a right to the golden age. So, check to what extent you have become real gold. You made a bargain, but it isn’t that you received something and used it up. Have you accumulated so much that you can remain constantly full for 21 generations that your dynasty also remains prosperous? Not just for 21 births, but even in the copper age? Because you will be devotee souls, you will lack nothing. You will have so much wealth, even in the copper age, that you will be able to make donations and perform charity very well. Look, even at the end of the iron age, even in your last birth, you haven’t become beggars, have you? You have become those who can at least eat dal and roti. You don’t have illegal money, but at least you have dal and roti. The income of this time will ensure that you don’t become beggars throughout the cycle. You have accumulated so much that even in the last birth you can eat dal and roti. Have you kept an account of how much you have saved? Do you know how to make your budget? You are clever when it comes to accumulating, are you not? If not, then what will you do for 21 births? Will you become those who earn an income or those who have a right to a kingdom and rule a kingdom? Those of a royal family do not need to earn anything. The subjects have to earn. It is numberwise in that too; there are wealthy subjects and ordinary subjects. There is no one poor there. However, a royal family receives a kingdom as the reward of their efforts. They become those who have a right to the royal family for birth after birth. They do not have a right to a royal throne in every birth, but they attain a right to a royal family for birth after birth. So, what will you become? Now make your budget. Make a savings scheme.

In today’s world, they convert waste into best. They reduce all wastage. So, all of you also keep your savings account in your awareness. Create a budget of how and where you have to use your thought power, your word power, your power of actions and your power of time. Let it not be that all these powers are wasted. If your thoughts are ordinary or wasteful, then both ordinary and wasteful do not save anything, but make you lose something. Keep your chart for the whole day. How much did I use these powers and increase them? The more you use them for a task, the more that power will increase. All of you know that thought is a power, but you are numberwise in putting that into practice. Some neither use it for a task nor do they waste it in performing sinful actions. However, in an ordinary timetable, you neither earned nor lost, because you did not accumulate. To have a timetable of ordinary service or to have a timetable of ordinary family life would not be called accumulating in a savings account. Do not just check whether you served and studied according to your capacity, that you didn’t cause sorrow to anyone, that you didn’t perform any wrong action. You didn’t cause anyone sorrow, but did you give them happiness? Did you do as much powerful service as you could have done? For instance, BapDada always gives the direction: To renounce the consciousness of “I” and “mine” is real service. So, did I serve in that way? I did not speak wrong words, but did I speak words that put hope into a hopeless soul? That made a soul lacking courage courageous? Did I put the zeal and enthusiasm of happiness into someone? This is accumulating and saving. Simply to spend two or four hours ordinarily is not saving anything. Create such a budget that you save and accumulate all powers. This year, carry out your task with a budget. Make a plan of how you use every power. Make such a spiritual budget that every soul in the world attains something and sings your praise. You definitely have to give something or other to everyone, whether you give them liberation or liberation-in-life. You are doing the service of not just purifying human souls, but also the elements. A spiritual (Godly) budget means that all souls and the elements become happy and peaceful. That Government makes a budget that they will give this much water, this many buildings, this much electricity, etc. What budget are you creating? That you will give everyone liberation and liberation-in-life for many births and liberate them from their beggary (poverty), sorrow and peacelessness. For half a cycle they will live comfortably. Their desire will definitely be fulfilled. Those people only want liberation. They don’t know it, but that is what they are asking for, is it not? So make a spiritual (Godly) budget for the self and for the world. Do you understand what you have to do? You are celebrating both the Silver Jubilee and the Golden Jubilee this year, are you not? So, this is an important year. Achcha.

To those who always keep the elevated bargain in their awareness, to those who always increase their account of accumulation, to those who use their every power and thereby increase it, to those who always know the importance of time and become great and make others great, to such elevated, wealthy, such elevated, sensible children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting kumars:

A kumar life is a lucky life, because you have been saved from climbing up the wrong ladder. You never have the thought of climbing up the wrong ladder, do you? Even those who have climbed up are coming down. Even those who are householders are calling themselves kumars and kumaris, are they not? So, they have come down the ladder, have they not? So always keep this elevated fortune of yours in your awareness. A kumar life means a life in which you are saved from bondage. Otherwise, just look how many bondages you would be tied in. So, you have been saved from being pulled by bondage. You are free in your mind and free in relationships. A kumar life is an independent life. You don’t ever have the thought, even in your dreams, to find some helper do you, that you should find a companion, do you, that they would help you at a time of illness? Do you ever think in this way? Do you ever have this thought at all? A kumar life means to be a constantly flying bird, not one who is trapped in bondage. Let there never be this thought. Always remain free from bondage and continue to move forward at a fast speed.

BapDada meeting kumaris:

Kumaris have received a lift to move forward in service. This lift is an elevated gift. You know how to use this gift, do you not? The more powerful you make yourself, the more powerful the service will be that you do. If you yourself are weak in any matter, then service too will be weak. Therefore, become powerful and become a powerful server. Continue to make such preparations so that, when the time comes, you can engage yourself in service successfully and claim a number ahead. At present, you have to give time to your studies and then you will just have one thing to do. Therefore, wherever you are, continue to take training. Continue to prepare yourselves in the company of the instrument souls and you will become a worthy server. The more you move forward, the more benefit there is for you.

BapDada meeting server teachers:

1) A server means one who is always an instrument. The feeling of being an instrument automatically brings you success in service. If there isn’t the feeling of being an instrument, there isn’t success. You have made a promise that you will constantly belong to the Father, that you belong to the Father and that you will always belong to Him, have you not? A server means one who places every step in the Father’s footsteps. This is called being one who follows the Father. You are the servers who make every step elevated by following elevated directions, are you not? To attain success in service is the elevated aim of a server. So, all of you are those who keep an elevated aim, are you not? The more all wastage is finished in yourself and in service, the more powerful you and service will become. So, to finish all wastage and remain constantly powerful is the speciality of servers. The more powerful you instrument souls are, the more powerful service will be. To be a server means constantly to put zeal and enthusiasm into service. Those who have zeal and enthusiasm are able to give zeal and enthusiasm to others. So, let zeal and enthusiasm always be visible in a practical way. Let it not be that internally I remain like that, but that it is not visible externally. Incognito effort is something else, but zeal and enthusiasm cannot remain hidden. The sparkle of constant zeal and enthusiasm should automatically be visible on your face. Whether you say something or not, your face and sparkle should say it. Are you such servers?

To receive a golden chance of service is also a sign of elevated fortune. You have received the fortune of being a server, but now, you have to create your fortune and see whether it is number one or number two. Not just to attain one type of fortune, but to attain fortune upon fortune. The more fortune you continue to attain, the more your number automatically moves forward. This is called being multimillion times fortunate. Don’t just become an embodiment of success in one subject, but in all subjects. Achcha.

2) Who has the most happiness – you or the Father? Why do you not say that you have the most happiness? You have been calling out in devotion since the copper age and now that you have found Him, you should have so much happiness! For 63 births you had the desire to attain Him and now that that desire of 63 births has been fulfilled, there is so much happiness. When any desire is fulfilled, you become happy, do you not? This happiness will give happiness to the world. When you become happy, the whole world becomes happy. You have received such happiness, have you not? When you change, the world also changes, and it changes in such a way that no name or trace of sorrow or peacelessness remains. So, constantly continue to dance in happiness. Always continue to accumulate in your account of elevated actions. Distribute the treasures of happiness to everyone. There is no happiness in today’s world. All are beggars for happiness and so fill them with happiness. Always continue to move forward with this service. Continue to put zeal and enthusiasm into souls who have become hopeless. They have become hopeless thinking, “I am unable to do anything, it is not possible….” So you become victorious, you make them victorious and you increase their zeal and enthusiasm. Let the tilak of the awareness of victory always be applied. You are those who have the tilak and also a right to self-sovereignty. Always maintain this awareness. Achcha.

Question: What are the signs of those who are the close stars?

Answer: They are seen to be equal. BapDada’s virtues and His task are clearly visible in the stars who are close. The more closeness there is, the more equality there will be. Each one’s face will be a mirror to grant a vision of BapDada. On seeing them, people will receive BapDada’s introduction. Although they would be seeing you, they would be attracted to BapDada. This is known as “son shows the Father.” Whoever you love, the stamp of that one will be visible in your every step. To the extent that you are cheerful, you become an image that attracts. Achcha.

Blessing: May you be a great donor and constantly move forward by receiving blessings from many souls.
To be a great donor means to serve others. By serving others, you are automatically served. To be a great donor means to make yourself full of all treasures. However many souls you give the donation of happiness, power and knowledge to, the sound of attainment or the blessings that emerge from them will become a form of blessing for you. These blessings are a means to take you forward. Those who receive blessings are always happy. So, every day at amrit vela, make a programme to become a great donor. Let there not be a single day when you do not give a donation.
Slogan: The instant and practical fruit of the present time gives the soul power of the flying stage.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-05-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 15-01-86 मधुबन

सस्ता सौदा और बचत का बजट

रत्नागर बाप अपने बड़े ते बड़े सौदा करने वाले सौदागर बच्चों को देख मुस्करा रहे हैं। सौदा कितना बड़ा और करने वाले सौदागर दुनिया के अन्तर में कितने साधारण, भोले-भाले हैं। भगवान से सौदा करने वाली कौन आत्मायें भाग्यवान बनीं। यह देख मुस्करा रहे हैं। इतना बड़ा सौदा एक जन्म का जो 21 जन्म सदा मालामाल हो जाते। देना क्या और लेना क्या है। अनगिनत पदमों की कमाई वा पदमों का सौदा कितना सहज करते हो। सौदा करने में समय भी वास्तव में एक सेकेण्ड लगता है। और कितना सस्ता सौदा किया? एक सेकण्ड में और एक बोल में सौदा कर लिया – दिल से माना मेरा बाबा। इस एक बोल से इतना बड़ा अनगिनत खजाने का सौदा कर लेते हो। सस्ता सौदा है ना। न मेहनत है, न मंहगा है। न समय देना पड़ता है। और कोई भी हद के सौदे करते तो कितना समय देना पड़ता। मेहनत भी करनी पड़ती और मंहगा भी दिन-प्रतिदिन होता ही जाता है। और चलेगा कहाँ तक? एक जन्म की भी गारन्टी नहीं। तो अब श्रेष्ठ सौदा कर लिया है वा अभी सोच रहे हो कि करना है? पक्का सौदा कर लिया है ना? बापदादा अपने सौदागर बच्चों को देख रहे थे। सौदागरों की लिस्ट में कौन-कौन नामीग्रामी हैं। दुनिया वाले भी नामीग्रामी लोगों की लिस्ट बनाते हैं ना। विशेष डायरेक्टरी भी बनाते हैं। बाप की डायरेक्टरी में किन्हों के नाम हैं? जिनमें दुनिया वालों की ऑख नहीं जाती, उन्होंने ही बाप से सौदा किया और परमात्म नयनों के सितारे बन गये, नूरे रत्न बन गये। नाउम्मींद आत्माओं को विशेष आत्मा बना दिया। ऐसा नशा सदा रहता है? परमात्म डायरेक्टरी के विशेष वी.आई.पी. हम हैं इसलिए ही गायन है भोलों का भगवान। है चतुर-सुजान लेकिन पसन्द भोले ही आते हैं। दुनिया की बाहरमुखी चतुराई बाप को पसन्द नहीं। उन्हों का कलियुग में राज्य हैं, जहाँ अभी-अभी लखपति अभी-अभी कखपति हैं। लेकिन आप सभी सदा के लिए पदमापदमति बन जाते हो। भय का राज्य नहीं। निर्भय हैं।

आज की दुनिया में धन भी है और भय भी हैं। जितना धन उतना भय में ही खाते, भय में ही सोते। और आप बेफिकर बादशाह बन जाते। निर्भय बन जाते हो। भय का भी भूत कहा जाता है। आप उस भूत से भी छूट जाते हो। छूट गये हो ना? कोई भय है? जहाँ मेरापन होगा वहाँ भय जरूर होगा। “मेरा बाबा”। सिर्फ एक ही शिवबाबा है जो निर्भय बनाता है। उनके सिवाए कोई भी सोना हिरण भी अगर मेरा है तो भी भय है। तो चेक करो मेरा मेरा का संस्कार ब्राह्मण जीवन में भी किसी भी सूक्ष्म रूप में रह तो नहीं गया है? सिल्वर जुबली, गोल्डन जुबली मना रहे हो ना। चांदी वा सोना, रीयल तभी बनता है जब आग में गलाकर जो कुछ मिक्स होता है उसको समाप्त कर देते हैं। रीयल सिल्वर जुबली, रीयल गोल्डन जुबली है ना। तो जुबली मनाने के लिए रीयल सिल्वर, रीयल गोल्ड बनना ही पड़ेगा। ऐसे नहीं जो सिल्वर जुबली वाले हैं वह सिल्वर ही हैं। यह तो वर्षों के हिसाब से सिल्वर जुबली कहते हैं। लेकिन हो सभी गोल्डन एज के अधिकारी गोल्डन एज वाले। तो चेक करो रीयल गोल्ड कहाँ तक बने हैं? सौदा तो किया लेकिन आया और खाया। ऐसे तो नहीं? इतना जमा किया जो 21 पीढ़ी सदा सम्पन्न रहें? आपकी वंशावली भी मालामाल रहे। न सिर्फ 21 जन्म लेकिन द्वापर में भी भक्त आत्मा होने के कारण कोई कमी नहीं होगी। इतना धन द्वापर में भी रहता है जो दान-पुण्य अच्छी तरह से कर सकते हो। कलियुग के अन्त में भी देखो, अन्तिम जन्म में भी भिखारी तो नहीं बने हो ना! दाल-रोटी खाने वाले बने ना। काला धन तो नहीं है लेकिन दाल-रोटी तो है ना। इस समय की कमाई वा सौदा पूरा ही कल्प भिखारी नहीं बनायेगा, इतना इकट्ठा किया है जो अन्तिम जन्म में भी दाल-रोटी खाते हो, इतना बचत का हिसाब रखते हो? बजट बनाना आता है? जमा करने में होशियार हो ना! नहीं तो 21 जन्म क्या करेंगे? कमाई करने वाले बनेंगे या राज्य अधिकारी बन राज्य करेंगे? रॉयल फैमली को कमाने की जरूरत नहीं होती। प्रजा को कमाना पड़ेगा। उसमें भी नम्बर हैं। साहूकार प्रजा और साधारण प्रजा। गरीब तो होता ही नहीं है। लेकिन रॉयल फैमली पुरुषार्थ की प्रारब्ध राज्य प्राप्त करती है। जन्म-जन्म रॉयल फैमली के अधिकारी बनते हैं। राज्य तख्त के अधिकारी हर जन्म में नहीं बनते लेकिन रायल फैमली का अधिकार जन्म-जन्म प्राप्त करते हैं। तो क्या बनेंगे? अब बजट बनाओ। बचत की स्कीम बनाओ।

आजकल के जमाने में वेस्ट से बेस्ट बनाते हैं। वेस्ट को ही बचाते हैं। तो आप सब भी बचत का खाता सदा स्मृति में रखो। बजट बनाओ। संकल्प शक्ति, वाणी की शक्ति, कर्म की शक्ति, समय की शक्ति कैसे और कहाँ कार्य में लगानी है। ऐसे न हो यह सब शक्तियाँ व्यर्थ चली जाएं। संकल्प भी अगर साधारण हैं, व्यर्थ हैं तो व्यर्थ और साधारण दोनों बचत नहीं हुई। लेकिन गँवाया। सारे दिन में अपना चार्ट बनाओ। इन शक्तियों को कार्य में लगाकर कितना बढ़ाया! क्योंकि जितना कार्य में लगायेंगे उतना शक्ति बढ़ेगी। जानते सभी हो कि संकल्प शक्ति है लेकिन कार्य में लगाने का अभ्यास, इसमें नम्बरवार हैं। कोई फिर, न तो कार्य में लगाते, न पाप कर्म में गँवाते। लेकिन साधारण दिनचर्या में न कमाया न गँवाया। जमा तो नहीं हुआ ना। साधारण सेवा की दिनचर्या वा साधारण प्रवृत्ति की दिनचर्या इसको बजट का खाता जमा होना नहीं कहेंगे। सिर्फ यह नहीं चेक करो कि यथाशक्ति सेवा भी की, पढाई भी की। किसको दु:ख नहीं दिया। कोई उल्टा कर्म नहीं किया। लेकिन दु:ख नहीं दिया तो सुख दिया? जितनी और जैसी शक्तिशाली सेवा करनी चाहिए उतनी की? जैसे बापदादा सदा डायरेक्शन देते हैं कि मैं-पन का, मेरेपन का त्याग ही सच्ची सेवा है, ऐसे सेवा की? उल्टा बोल नहीं बोला, लेकिन ऐसा बोल बोला जो किसी ना-उम्मींद को उम्मींदवार बना दिया। हिम्मतहीन को हिम्मतवान बनाया? खुशी के उमंग, उत्साह में किसको लाया? यह है जमा करना, बचत करना। ऐसे ही दो घण्टा, 4 घण्टा बीत गया, वह बचत नहीं हुई। सब शक्तियां बचत कर जमा करो। ऐसा बजट बनाओ। यह साल बजट बनाकर कार्य करो। हर शक्ति को कार्य में कैसे लगावें, यह प्लैन बनाओ। ईश्वरीय बजट ऐसा बनाओ जो विश्व की हर आत्मा कुछ न कुछ प्राप्त करके ही आपके गुण गान करे। सभी को कुछ न कुछ देना ही है। चाहे मुक्ति दो, चाहे जीवनमुक्ति दो। मनुष्य आत्मायें तो क्या प्रकृति को भी पावन बनाने की सेवा कर रहे हो। ईश्वरीय बजट अर्थात् सर्व आत्मायें प्रकृति सहित सुखी वा शान्त बन जावें। वह गवर्मेन्ट बजट बनाती है इतना पानी देंगे, इतने मकान देंगे, इतनी बिजली देंगे। आप क्या बजट बनाते हो? सभी को अनेक जन्मों तक मुक्ति और जीवनमुक्ति देवें। भिखारीपन से, दु:ख अशान्ति से मुक्त करें। आधाकल्प तो आराम से रहेंगे। उन्हों की आश तो पूर्ण हो ही जायेगी। वह लोग तो मुक्ति ही चाहते हैं ना। जानते नहीं हैं लेकिन मांगते तो हैं ना। तो स्वयं के प्रति और विश्व के प्रति ईश्वरीय बजट बनाओ। समझा क्या करना है! सिल्वर और गोल्डन जुबली दोनों इसी वर्ष में कर रहे हो ना। तो यह महत्व का वर्ष है। अच्छा।

सदा श्रेष्ठ सौदा स्मृति में रखने वाले, सदा जमा का खाता बढ़ाने वाले, सदा हर शक्तियों को कार्य में लगाए वृद्धि करने वाले, सदा समय के महत्व को जान महान बनने और बनाने वाले, ऐसे श्रेष्ठ धनवान, श्रेष्ठ समझदार बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

कुमारों से:- कुमार जीवन भी लकी जीवन है क्योंकि उल्टी सीढ़ी चढ़ने से बच गये। कभी संकल्प तो नहीं आता है उल्टी सीढ़ी चढ़ने का! चढ़ने वाले भी उतर रहे हैं। सभी प्रवृत्ति वाले भी अपने को कुमार कुमारी कहलाते हैं ना। तो सीढ़ी उतरे ना! तो सदा अपने इस श्रेष्ठ भाग्य को स्मृति में रखो। कुमार जीवन अर्थात् बन्धनों से बचने की जीवन। नहीं तो देखो कितने बन्धनों में होते हैं। तो बन्धनों में खिंचने से बच गये। मन से भी स्वतंत्र, सम्बन्ध से भी स्वतंत्र। कुमार जीवन है ही स्वतंत्र। कभी स्वप्न में भी ख्याल तो नहीं आता- थोड़ा कोई सहयोगी मिल जाए! कोई साथी मिल जाए! बीमारी में मदद हो जाए- ऐसे कभी सोचते हो! बिल्कुल ख्याल नहीं आता? कुमार जीवन अर्थात् सदा उड़ते पंछी बंधन में फंसे हुए नहीं। कभी भी कोई संकल्प न आवे। सदा निर्बन्धन हो तीव्रगति से आगे बढ़ते चलो।

कुमारियों से:- कुमारियों को सेवा में आगे बढ़ने की लिफ्ट मिली हुई है। यह लिफ्ट ही श्रेष्ठ गिफ्ट है। इस गिफ्ट को यूज़ करना आता है ना! जितना स्वयं को शक्तिशाली बनायेंगी उतना सेवा भी शक्तिशाली करेंगी। अगर स्वयं ही किसी बात में कमजोर होंगी तो सेवा भी कमजोर होगी इसलिए शक्तिशाली बन शक्तिशाली सेवाधारी बन जाओ। ऐसी तैयारी करती चलो। जो समय आने पर सफलता-पूर्वक सेवा में लग जाओ और नम्बर आगे ले लो। अभी तो पढ़ाई में टाइम देना पड़ता है फिर तो एक ही काम होगा इसलिए जहाँ भी हो ट्रेनिंग करती रहो। निमित्त बनी हुई आत्माओं के संग से तैयारी करती रहो। तो योग्य सेवाधारी बन जायेंगी। जितना आगे बढ़ेगी उतना अपना ही फायदा है।

सेवाधारी – टीचर्स बहनों से

1. सेवाधारी अर्थात् सदा निमित्त। निमित्त भाव- सेवा में स्वत: ही सफलता दिलाता है। निमित्त भाव नहीं तो सफलता नहीं। सदा बाप के थे, बाप के हैं और बाप के ही रहेंगे – ऐसी प्रतिज्ञा कर ली है ना। सेवाधारी अर्थात् हर कदम बाप के कदम पर रखने वाले। इसको कहते हैं फालो फादर करने वाले। हर कदम श्रेष्ठ मत पर श्रेष्ठ बनाने वाले सेवाधारी हो ना। सेवा में सफलता प्राप्त करना, यही सेवाधारी का श्रेष्ठ लक्ष्य है। तो सभी श्रेष्ठ लक्ष्य रखने वाले हो ना। जितना सेवा में वा स्व में व्यर्थ समाप्त हो जाता है उतना ही स्व और सेवा समर्थ बनती है। तो व्यर्थ को खत्म करना, सदा समर्थ बनना। यही सेवाधारियों की विशेषता है। जितना स्वयं निमित्त बनी हुई आत्मायें शक्तिशाली होंगी उतना सेवा भी शक्तिशाली होगी। सेवाधारी का अर्थ ही है सेवा में सदा उमंग-उत्साह लाना। स्वयं उमंग-उत्साह में रहने वाले औरों को उमंग उत्साह दिला सकते हैं। तो सदा प्रत्यक्ष रूप में उमंग उत्साह दिखाई दे। ऐसे नहीं कि मैं अन्दर में तो रहती हूँ लेकिन बाहर नहीं दिखाई देता। गुप्त पुरुषार्थ और चीज है लेकिन उमंग-उत्साह छिप नहीं सकता है। चेहरे पर सदा उमंग-उत्साह की झलक स्वत: दिखाई देगी। बोले न बोले लेकिन चेहरा ही बोलेगा, झलक बोलेगी। ऐसे सेवाधारी हो?

सेवा का गोल्डन चांस यह भी श्रेष्ठ भाग्य की निशानी है। सेवाधारी बनने का भाग्य तो प्राप्त हो गया अभी सेवाधारी नम्बरवन हैं या नम्बर टू हैं, यह भी भाग्य बनाना और देखना है। सिर्फ एक भाग्य नहीं लेकिन भाग्य पर भाग्य की प्राप्ति। जितने भाग्य प्राप्त करते जाते उतना नम्बर स्वत: ही आगे बढ़ता जाता है। इसको कहते हैं पदमापदम भाग्यवान। एक सबजेक्ट में नहीं सब सबजेक्ट में सफलता स्वरूप। अच्छा!

2- सबसे ज्यादा खुशी किसको है – बाप को है या आपको? क्यों नहीं कहते हो कि मेरे को है! द्वापर से भक्ति में पुकारा और अब प्राप्त कर लिया तो कितनी खुशी होगी! 63 जन्म प्राप्त करने की इच्छा रखी और 63 जन्मों की इच्छा पूर्ण हो गई तो कितनी खुशी होगी! किसी भी चीज़ की इच्छा पूर्ण होती है तो खुशी होती है ना। यह खुशी ही विश्व को खुशी दिलाने वाली है। आप खुश होते हो तो सारी विश्व खुश हो जाती है। ऐसी खुशी मिली है ना। जब आप बदलते हो तो दुनिया भी बदल जाती है। और ऐसी बदलती है जिसमें दु:ख और अशान्ति का नाम निशान नहीं। तो सदा खुशी में नाचते रहो। सदा अपने श्रेष्ठ कर्मों का खाता जमा करते चलो। सभी को खुशी का खजाना बांटो। आज के संसार में खुशी नहीं है। सब खुशी के भिखारी हैं उन्हें खुशी से भरपूर बनाओ। सदा इसी सेवा से आगे बढ़ते रहो। जो आत्मायें दिलशिकस्त बन गई हैं उन्हों में उमंग-उत्साह लाते रहो। कुछ कर सकते नहीं, हो नहीं सकता… ऐसे दिलशिकस्त हैं और आप विजयी बन विजयी बनाने का उमंग-उत्साह बढ़ाने वाले हो। सदा विजय की स्मृति का तिलक लगा रहे। तिलकधारी भी हैं और स्वराज्य अधिकारी भी हैं – इसी स्मृति में सदा रहो।

प्रश्न:- जो समीप सितारे हैं उनके लक्षण क्या होंगे?

उत्तर:- उनमें समानता दिखाई देगी। समीप सितारों में बापदादा के गुण और कर्तव्य प्रत्यक्ष दिखाई देंगे। जितनी समीपता उतनी समानता होगी। उनका मुखड़ा बापदादा का साक्षात्कार कराने वाला दर्पण होगा। उनको देखते ही बापदादा का परिचय प्राप्त होगा। भले देखेंगे आपको लेकिन आकर्षण बापदादा की तरफ होगी। इसको कहा जाता है सन शोज़ फादर। स्नेही के हर कदम में, जिससे स्नेह है उसकी छाप देखने में आती है। जितना हर्षितमूर्त उतना आकर्षण मूर्त बन जाते हैं। अच्छा!

वरदान:- सेवा द्वारा अनेक आत्माओं की आशीर्वाद प्राप्त कर सदा आगे बढ़ने वाले महादानी भव
महादानी बनना अर्थात् दूसरों की सेवा करना, दूसरों की सेवा करने से स्वयं की सेवा स्वत: हो जाती है। महादानी बनना अर्थात् स्वयं को मालामाल करना, जितनी आत्माओं को सुख, शक्ति व ज्ञान का दान देंगे उतनी आत्माओं के प्राप्ति की आवाज या शुक्रिया जो निकलता वह आपके लिए आशीर्वाद का रूप हो जायेगा। यह आशीर्वादें ही आगे बढ़ने का साधन हैं। जिन्हें आशीर्वादें मिलती हैं वह सदा खुश रहते हैं। तो रोज़ अमृतवेले महादानी बनने का प्रोग्राम बनाओ। कोई समय वा दिन ऐसा न हो जिसमें दान न हो।
स्लोगन:- अभी का प्रत्यक्षफल आत्मा को उड़ती कला का बल देता है।

TODAY MURLI 24 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 May 2019 :- Click Here

24/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, whatever the Father tells you, it should be imprinted on your heart. You have come here to claim a high status in the sun-dynasty clan and so you also have to imbibe knowledge.
Question: What is the way to remain constantly refreshed?
Answer: Just as fans refresh you in the heat, so you too should constantly continue to spin the discus of self-realisation and you will remain refreshed. Children ask: How long does it take to become a spinner of the discus of self-realisation? Baba says: Children, it takes a second. You children definitely have to become spinners of the discus of self-realisation because it is through this that you will become rulers of the globe. Only those who spin the discus of self-realisation become part of the sun dynasty.

Om shanti. The fans are spinning around and refreshing everyone. When you sit here while spinning the discus of self-realisation, you become very refreshed. If someone doesn’t know the meaning of being a spinner of the discus of self-realisation you have to explain to him or her. If they don’t understand they won’t become rulers of the globe. Someone who is a spinner of the discus of self-realisation would have the faith that he has become a spinner of the discus of self-realisation in order to become a ruler of the globe. They show Krishna with a discus and they also give this symbol to the combined form of Lakshmi and Narayan. They show it with him alone too. You have to understand the discus of self-realisation because only then will you become a ruler of the globe. This is something very easy. Children ask: Baba, how long does it take to become a spinner of the discus of self-realisation? Children, it takes a second. You then become those who are part of the Vishnu dynasty. Deities are called those who belong to the Vishnu dynasty. In order to become part of the Vishnu dynasty, you first have to become part of the Shiva dynasty. Then Baba sits here and makes you into part of the sun dynasty. The words are very easy. We become part of the sun dynasty in the new world. We become the masters of the new world; rulers of the globe. It takes a second to become spinners of the discus of self-realisation and part of the Vishnu dynasty and it is Shiv Baba who makes you that. Shiv Baba makes you part of the Vishnu dynasty. No one else can make you that. You children know that those of the Vishnu dynasty exist in the golden age, not here. This is the age for becoming part of the Vishnu dynasty. You come here to become part of the Vishnu dynasty, which is also called the sun dynasty. The words “knowledge-full sun dynasty” are very good. Vishnu was the master of the golden age. Both Lakshmi and Narayan are included in him. You children have come here to become Lakshmi and Narayan or part of the Vishnu dynasty. There is a lot of happiness in becoming part of the Vishnu dynasty in the new world, in the goldenaged world. There is no higher status than that. There should be a lot of happiness in this. You explain at the exhibitions that that is your aim and objective. Tell them: This is a very big university; this is called the spiritual university. The aim and objective are in this picture. You children should keep what to write in your intellects so that it only takes a second to explain. Only you can explain this. It is written in that: We definitely were the deities of the Vishnu dynasty, that is, we belonged to the deity clan; we were the masters of heaven. The Father explains: Sweetest children, 5000 years ago, you were the sun-dynasty deities in Bharat. This has now entered the intellects of you children. Shiv Baba says to you children: O children, you were the sun dynasty in the golden age. Shiv Baba had come to establish the sun-dynasty kingdom. Truly, Bharat was heaven. They were the ones who were worthy of worship when there were no worshippers; there was no paraphernalia of devotion. Only in those scriptures are all the systems and customs of worship written. All of that is the paraphernalia. The unlimited Father, Shiv Baba, sits here and explains. He is the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. He is also called the Lord of the Tree and the Lord of Jupiter. The omens of Jupiter are considered to be the highest of all. The Lord of the Tree is explaining to you: You were worthy-of-worship deities and you then became worshippers. Where did the deities who were viceless go? They would definitely have taken rebirth and come down. So, each word should be noted – on your heart or on paper. Who is explaining this? Shiv Baba. He alone creates heaven. It is Shiv Baba alone who gives you children the inheritance of heaven. No one, except the Father, can give this. A physical father is a bodily being. You consider yourselves to be souls and you remember the parlokik Father, “Baba”, and so Baba responds, “O children”. Therefore, He is the unlimited Father. You children were the sun-dynasty deities who were worthy of worship and you then became worshippers. This is the kingdom of Ravan. Every year people continue to burn effigies of Ravan but, in spite of that, he doesn’t die: after 12 months they burn Ravan again. This means that they themselves prove that they belong to the community of Ravan. Ravan, that is, the kingdom of the five vices, exists all the time. In the golden age, all were elevated. The iron age is now the old and corrupt world. This cycle continues to turn. You, who belong to the Prajapita Brahma clan, are now sitting at the confluence age. It is in your intellects that you are Brahmins. You don’t belong to the shudra clan now. At this time, it is the devilish kingdom. The Father is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, but where is that happiness now? In the golden age. Where is there sorrow? In the iron age. The Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness is Shiv Baba. He gives you the inheritance of happiness. The golden age is called the land of happiness. There is no mention of sorrow there. Your lifespan is long there. There is no need to cry there. You shed your old skin when it is time and take others. You understand that your bodies have now become old. Children are at first satoguni and this is why children are considered to be even greater than those who have knowledge of the brahm element. Those people (sannyasis) still renounce their vicious households, and so they are aware of all the vices, whereas little children are ignorant of them. At this time, there is the kingdom of Ravan, the corrupt kingdom, over the whole world. There was the kingdom of elevated deities in the golden age. That doesn’t exist now. History will then repeat. Who would make you elevated? Here, not a single person is elevated. A very good intellect is needed for this. This is the age for becoming those with divine intellects. The Father comes and changes you from those with stone intellects into those with divine intellects. It is said: Good company takes you across and bad company drowns you. Apart from the one true Father, all the company in the world is bad company. The Father says: I depart after making you completely viceless. Then, who makes you completely vicious? They say: What do we know? Oh! but who makes you viceless? It must surely be the Father. Who makes you vicious? No one knows. The Father sits here and explains to you. People don’t know anything at all. This is the kingdom of Ravan. When someone’s father dies, ask him where he went, and he would reply that he has become a resident of heaven. Achcha, that means he was in hell, and so that also makes you a resident of hell. This is such an easy thing to explain. No one considers himself to be a resident of hell. Hell is called the brothel and heaven is called the Temple of Shiva. Five thousand years ago there was the kingdom of deities. You were the masters of the world, emperors and empresses. Then you had to take rebirth. You are the ones who took the maximum rebirths. It is remembered: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. You remember that it was you who first belonged to the original, eternal deity religion which came here, and that you then became impure while taking 84 births. You now have to become pure. People call out: O Purifier, come! Therefore, they are giving the certificate that it is only the one Supreme Satguru who comes and purifies everyone. He Himself says: I sit in this one and purify you. However, there aren’t 8.4 million species; there are 84 births. There were the subjects of Lakshmi and Narayan in the golden age, but they are not there now. Where did they go? They too have to take 84 births. Those who come in the first number are the ones who take the full 84 births and so they also have to go first. The history of the world of deities repeats. The sun dynasty and the moon dynasty kingdoms must repeat. The Father is making you worthy. You say that you have come to this pathshala or university where you change from an ordinary human into Narayan. This is our aim and objective. Those who make effort well will pass. Those who don’t make effort will become subjects, some of whom will be very wealthy and others less wealthy: a kingdom is being created. You know that you are becoming elevated by following shrimat. You become Shri Lakshmi and Narayan or deities by following the shrimat of Shri Shri Shiv Baba. “Shri” means elevated. You cannot call anyone Shri at this time. However, here, they call anyone Shri: Shri so-and-so. Apart from the deities, no one canbecome elevated. Bharat was the most elevated of all and they now have finished the praise of Bharat in the kingdom of Ravan. There is a lot of praise as well as defamation of Bharat. Bharat was very wealthy and it has now become completely poverty-stricken. People go in front of the deity idols and sing their praise and say: I am without virtue; I have no virtues. They say this to the deity idols, but they (the deities) are not merciful. Only the One is merciful and He changes you from human beings into deities. He is now your Father, Teacher and Satguru. He guarantees: By remembering Me, your sins of many births will be burnt away and I will take you back with Me. Then, you have to go to the new world. This is a cycle of 5000 years. There was the new world and there will definitely be the new world again. When the world becomes impure, the Father will come and purify it. The Father says: Ravan makes you impure and I make you pure. However, people simply continue to worship as though they are playing with dolls. They don’t know why Ravan is portrayed with ten heads. They show Vishnu with four arms, but there cannot be a human being like that. If there were a human being with four arms, his children would also be like him. Here, everyone has two arms. They don’t know anything. They simply recite the scriptures of the path of devotion. They have so many followers etc. It is a wonder! It is the Father who is the Authority of knowledge. No human being can be an authority of knowledge. You call Me the Ocean of Knowledge. “Almighty Authority” is the praise that belongs to the Father. When you remember the Father, you receive power from Him through which you become the masters of the world. You understand that you had a lot of power and that you were viceless. You used to rule the whole world by yourselves, and so you would be called almighty, would you not? This Lakshmi and Narayan were the masters of the whole world. Where did they receive might from? From the Father. God is the Highest on High. He gives you such an easy explanation. It is easy to understand the cycle of 84 births through which you receive the sovereignty. Impure ones cannot receive the sovereignty of the world. Impure ones bow down in front of them (deity idols). They understand that they are devotees and so they bow their heads in front of those who were pure. The path of devotion too lasts for half the cycle. You have now found God. God speaks: I teach you Raja Yoga. I have come to give you the fruit of your devotion. People sing: God will definitely come in one form or another. The Father says: I will not come in a bullock cart. I only enter the one who was the highest on high and who has now completed his 84 births. Elevated human beings exist in the golden age. In the iron age, people are degraded and tamopradhan. You are now becoming satopradhan from tamopradhan. The Father comes and makes you satopradhan from tamopradhan. This is a play. If you don’t understand it, you will never go to heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect divine in the company of the one Father. Become completely viceless. Remain distant from bad company.
  2. Always maintain the happiness that you spinners of the discus of self-realisation will become the masters of the new world, rulers of the globe. Shiv Baba has come to make you into those who are the knowledge-full sun dynasty. This is your aim.
Blessing: May you be an unlimited server who spreads vibrations with your unlimited attitude while being an instrument for any type of service.
Now, bring about intensity in the service of unlimited transformation. Let it not be: I am doing it anyway, I stay so busy that I don’t even have time. While being an instrument for any type of service, you can be co-operative in an unlimited way. Simply let your attitude remain in the unlimited and vibrations will continue to spread. The busier you remain in the unlimited, the easier your duty will become. To do the service of spreading elevated vibrations with your every thought at every second is to be an unlimited server.
Slogan: For the Shiv Shaktis who remain combined with Father Shiva, the weapons of knowledge are their decoration.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 May 2019

To Read Murli 23 May 2019 :- Click Here
24-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप जो सुनाते हैं, वह तुम्हारे दिल पर छप जाना चाहिए, तुम यहाँ आये हो सूर्यवंशी घराने में ऊंच पद पाने, तो धारणा भी करनी है”
प्रश्नः- सदा रिफ्रेश रहने का साधन क्या है?
उत्तर:- जैसे गर्मी में पंखे चलते हैं तो रिफ्रेश कर देते हैं, ऐसे सदा स्वदर्शन चक्र फिराते रहो तो रिफ्रेश रहेंगे। बच्चे पूछते हैं – स्वदर्शन चक्रधारी बनने में कितना समय लगता है? बाबा कहते – बच्चे, एक सेकण्ड। तुम बच्चों को स्वदर्शन चक्रधारी जरूर बनना है क्योंकि इससे ही तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। स्वदर्शन चक्र फिराने वाले सूर्यवंशी बनते हैं।

ओम् शान्ति। पंखे भी फिरते हैं सबको रिफ्रेश करते हैं। तुम भी स्वदर्शन चक्रधारी बन बैठते हो तो बहुत रिफ्रेश होते हो। स्वदर्शन चक्रधारी का अर्थ भी कोई नहीं जानते हैं, तो उनको समझाना चाहिए। नहीं समझेंगे तो चक्रवर्ती राजा नहीं बनेंगे। स्वदर्शन चक्रधारी को निश्चय होगा कि हम चक्रवर्ती राजा बनने लिए स्वदर्शन चक्रधारी बने हैं। कृष्ण को भी चक्र दिखाते हैं। लक्ष्मी-नारायण कम्बाइन्ड को भी देते हैं, अकेले को भी देते हैं। स्वदर्शन चक्र को भी समझना है तब ही चक्रवर्ती राजा बनेंगे। बात तो बहुत सहज है। बच्चे पूछते हैं – बाबा, स्वदर्शन चक्रधारी बनने में कितना समय लगेगा? बच्चे, एक सेकण्ड। फिर तुम बनते हो विष्णुवंशी। देवताओं को विष्णुवंशी ही कहेंगे। विष्णुवंशी बनने के लिए पहले तो शिववंशी बनना पड़े फिर बाबा बैठ सूर्यवंशी बनाते हैं। अक्षर तो बहुत सहज हैं। हम नये विश्व में सूर्यवंशी बनते हैं। हम नई दुनिया के मालिक चक्रवर्ती बनते हैं। स्वदर्शन चक्रधारी सो विष्णुवंशी बनने में एक सेकण्ड लगता है। बनाने वाला है शिवबाबा। शिवबाबा विष्णुवंशी बनाते हैं, और कोई बना न सके। यह तो बच्चे जानते हैं विष्णुवंशी होते हैं सतयुग में, यहाँ नहीं। यह है विष्णुवंशी बनने का युग। तुम यहाँ आते ही हो विष्णुवंशी में आने लिए, जिसको सूर्यवंशी कहते हो। ज्ञान सूर्यवंशी अक्षर बहुत अच्छा है। विष्णु था सतयुग का मालिक। उसमें लक्ष्मी-नारायण दोनों हैं। यहाँ बच्चे आये हैं, लक्ष्मी-नारायण अथवा विष्णुवंशी बनने के लिए। इसमें खुशी भी बहुत होती है। नई दुनिया, नई विश्व में, गोल्डन एज विश्व में विष्णुवंशी बनना है। इससे ऊंच पद और है नहीं, इसमें तो बहुत खुशी होनी चाहिए।

प्रदर्शनी में तुम समझाते हो। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट ही यह है। बोलो, यह बहुत बड़ी युनिवर्सिटी है। इसको कहा जाता है रूहानी प्रीचुअल युनिवर्सिटी। एम ऑबजेक्ट इस चित्र में है। बच्चों को यह बुद्धि में रखना चाहिए। कैसे लिखें जो बच्चों को समझाने में एक सेकण्ड लगे। तुम ही समझा सकते हो। उनमें भी लिखा हुआ है हम विष्णुवंशी देवी-देवता थे जरूर अर्थात् देवी-देवता कुल के थे। स्वर्ग के मालिक थे। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, भारत में तुम आज से 5 हज़ार वर्ष पहले सूर्यवंशी देवी-देवता थे। बच्चों को अब बुद्धि में आया है। शिवबाबा बच्चों को कहते हैं – हे बच्चों, तुम सतयुग में सूर्यवंशी थे। शिवबाबा आया था सूर्यवंशी घराना स्थापन करने। बरोबर भारत स्वर्ग था। यही पूज्य थे, पुजारी कोई भी नहीं थे। पूजा की कोई सामग्री नहीं थी। इन शास्त्रों में ही पूजा की रस्म-रिवाज आदि लिखी हुई है। यह है सामग्री। तो बेहद का बाप शिवबाबा बैठ समझाते हैं। वह है ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप। उनको वृक्षपति अथवा ब्रहस्पति भी कहते हैं। ब्रहस्पति की दशा ऊंच ते ऊंच होती है। वृक्षपति तुमको समझा रहे हैं – तुम पूज्य देवी-देवता थे फिर पुजारी बने हो। जो देवतायें निर्विकारी थे फिर वह कहाँ गये? जरूर पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरेंगे। तो एक-एक अक्षर नोट करना चाहिए। दिल पर या कागज पर? यह कौन समझाते हैं? शिवबाबा। वही स्वर्ग रचते हैं। शिवबाबा ही बच्चों को स्वर्ग का वर्सा देते हैं। बाप बिगर और कोई दे न सके। लौकिक बाप तो है देहधारी। तुम अपने को आत्मा समझ पारलौकिक बाप को याद करते हो – बाबा, तो बाबा रेसपॉन्स करते हैं – हे बच्चों। तो बेहद का बाप हो गया ना। बच्चों, तुम सूर्यवंशी देवी-देवता पूज्य थे फिर तुम पुजारी बने। यह है रावण का राज्य। हर वर्ष रावण को जलाते हैं, फिर भी मरता ही नहीं है। 12 मास के बाद फिर रावण को जलायेंगे। गोया सिद्ध कर दिखलाते हैं हम रावण सम्प्रदाय के हैं। रावण अर्थात् 5 विकारों का राज्य कायम है। सतयुग में सभी श्रेष्ठाचारी थे, अभी कलियुग पुरानी भ्रष्टाचारी दुनिया है, यह चक्र फिरता रहता है। अभी तुम प्रजापिता ब्रह्मावंशी संगमयुग पर बैठे हो। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम ब्राह्मण हैं। अभी शूद्र कुल के नहीं हैं। इस समय है ही आसुरी राज्य। बाप को कहते हैं – हे दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। अब सुख कहाँ है? सतयुग में। दु:ख कहाँ है? दु:ख तो कलियुग में है। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है ही शिवबाबा। वह वर्सा देते ही हैं सुख का। सतयुग को सुखधाम कहा जाता है, वहाँ दु:ख का नाम नहीं। तुम्हारी आयु भी बड़ी होती है, रोने की दरकार नहीं। समय पर पुरानी खाल छोड़ दूसरी ले लेते हैं। समझते हैं अब शरीर बूढ़ा हुआ है। पहले बच्चा सतोगुणी होता है इसलिए बच्चों को ब्रह्मज्ञानी से ऊंच समझते हैं क्योंकि वह तो फिर भी विकारी गृहस्थी से सन्यासी बनते हैं, तो उनको सब विकारों का पता है। छोटे बच्चों को यह पता नहीं रहता है। इस समय सारी दुनिया में रावण राज्य, भ्रष्टाचारी राज्य है। श्रेष्ठाचारी देवी-देवताओं का राज्य सतयुग में था, अभी नहीं है। फिर हिस्ट्री रिपीट होगी। श्रेष्ठाचारी कौन बनावे? यहाँ तो एक भी श्रेष्ठाचारी नहीं। इसमें बड़ी बुद्धि चाहिए। यह है ही पारस बुद्धि बनने का युग। बाप आकर पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाते हैं।

कहा जाता है संग तारे कुसंग बोरे। सत बाप के सिवाए बाकी दुनिया में है ही कुसंग। बाप कहते हैं मैं सम्पूर्ण निर्विकारी बनाकर जाता हूँ। फिर सम्पूर्ण विकारी कौन बनाते हैं? कहते हैं हम क्या जानें! अरे, निर्विकारी कौन बनाते हैं? जरूर बाप ही बनायेंगे। विकारी कौन बनाते हैं? यह किसको पता नहीं है। बाप बैठ समझाते हैं, मनुष्य तो कुछ भी नहीं जानते हैं। रावण राज्य है ना। कोई का बाप मर जाता है, पूछो कहाँ गया? कहेंगे स्वर्गवासी हुआ। अच्छा, तो इसका मतलब नर्क में था ना। तो तुम भी नर्कवासी ठहरे ना। कितना सहज है समझाने की बात। अपने को कोई भी नर्कवासी समझते नहीं हैं। नर्क को वेश्यालय, स्वर्ग को शिवालय कहा जाता है। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले इन देवी-देवताओं का राज्य था। तुम विश्व के मालिक महाराजा-महारानी थे फिर पुनर्जन्म लेना पड़े। पुनर्जन्म सबसे जास्ती तुमने लिया है। इनके लिए ही गायन है – आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल। तुमको याद है तुम पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले ही आये फिर 84 जन्म ले पतित बने हो, अब फिर पावन बनना है। पुकारते भी हैं ना – पतित-पावन आओ, तो सर्टीफिकेट देते हैं कि एक ही सतगुरू सुप्रीम आकर पावन बनाते हैं। खुद कहते हैं इसमें बैठकर मैं तुमको पावन बनाता हूँ। बाकी 84 लाख योनियां आदि हैं नहीं। 84 जन्म हैं। इन लक्ष्मी-नारायण की प्रजा सतयुग में थी, अब नहीं है, कहाँ गई? उनको भी 84 जन्म लेना पड़े। जो पहले नम्बर में आते हैं वही पूरे 84 जन्म लेते हैं। तो फिर पहले वह जाने चाहिए। देवी-देवताओं की वर्ल्ड की हिस्ट्री रिपीट होती है। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राज्य मस्ट रिपीट। बाप तुमको लायक बना रहे हैं। तुम कहते हो हम आये हैं इस पाठशाला वा युनिवर्सिटी में, जहाँ हम नर से नारायण बनते हैं। हमारी एम ऑबजेक्ट यह है। जो अच्छी रीति पुरुषार्थ करेंगे वही पास होंगे। जो पुरुषार्थ नहीं करेंगे तो प्रजा में कोई बहुत साहूकार बनते हैं, कोई कम। यह राजधानी बन रही है। तुम जानते हो हम श्रीमत पर श्रेष्ठ बन रहे हैं। श्री श्री शिवबाबा की मत पर श्री लक्ष्मी-नारायण वा देवी-देवता बनते हैं। श्री माना श्रेष्ठ। अब किसको श्री नहीं कह सकते। परन्तु यहाँ तो जो आयेगा सबको श्री कह देंगे। श्री फलाना…… अब श्रेष्ठ तो सिवाए देवी-देवताओं के कोई बन नहीं सकता। भारत श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ था। रावण राज्य में भारत की महिमा ही खलास कर दी है। भारत की महिमा भी बहुत है तो निंदा भी बहुत है। भारत बिल्कुल धनवान था, अब बिल्कुल कंगाल बना है। देवताओं के आगे जाकर उन्हों की महिमा गाते हैं – हम निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। देवताओं को कहते हैं परन्तु वह रहमदिल थोड़ेही थे। रहमदिल तो एक को ही कहा जाता है जो मनुष्य से देवता बनाते हैं। अभी वह तुम्हारा बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। गैरन्टी करते हैं – मेरे को याद करने से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होंगे और साथ ले जाऊंगा। फिर तुमको नई दुनिया में जाना है। यह 5 हज़ार वर्ष का चक्र है। नई दुनिया थी सो फिर जरूर बनेगी। दुनिया पतित होगी फिर बाप आकर पावन बनायेंगे। बाप कहते हैं पतित रावण बनाते हैं, पावन मैं बनाता हूँ। बाकी यह तो जैसे गुड़ियों की पूजा करते रहते हैं। उनको यह पता नहीं रावण को 10 शीश क्यों देते हैं? विष्णु को भी 4 भुजा देते हैं। परन्तु कोई ऐसा मनुष्य थोड़ेही कभी होता है। अगर 4 भुजा वाला मनुष्य होता तो उससे जो बच्चा पैदा होता वह भी ऐसा होना चाहिए। यहाँ तो सबको 2 भुजा हैं। कुछ भी जानते नहीं। भक्ति मार्ग के शास्त्र कण्ठ कर लेते हैं, उन्हों के भी कितने फालोअर्स बन जाते हैं। कमाल है! यह तो बाप ज्ञान की अथॉरिटी है। कोई मनुष्य ज्ञान की अथॉरिटी हो न सके। ज्ञान का सागर तुम मुझे कहते हो – ऑलमाइटी अथॉरिटी… यह बाप की महिमा है। तुम बाप को याद करते हो तो बाप से ताकत लेते हो, जिससे विश्व के मालिक बन जाते हो। तुम समझते हो हमारे में बहुत ताकत थी, हम निर्विकारी थे। सारे विश्व पर अकेले राज्य करते थे तो ऑलमाइटी कहेंगे ना। यह लक्ष्मी-नारायण सारे विश्व के मालिक थे। यह माइट उन्हों को कहाँ से मिली? बाप से। ऊंच ते ऊंच भगवान् है ना। कितना सहज समझाते हैं। यह 84 के चक्र को समझना तो सहज है ना। जिससे ही तुमको बादशाही मिलती है। पतित को विश्व की बादशाही मिल न सके। पतित तो उन्हों के आगे झुकते हैं। समझते हैं हम भक्त हैं। पावन के आगे माथा टेकते हैं। भक्ति मार्ग भी आधाकल्प चलता है। अभी तुमको भगवान् मिला है। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ, भक्ति का फल देने आया हूँ। गाते भी हैं भगवान् किसी न किसी रूप में आ जायेंगे। बाप कहते हैं मै कोई बैलगाड़ी आदि में थोड़ेही आऊंगा। जो ऊंच ते ऊंच था फिर 84 जन्म पूरे किये हैं, उनमें ही आता हूँ। उत्तम पुरुष होते हैं सतयुग में। कलियुग में हैं कनिष्ट, तमोप्रधान। अभी तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हो। बाप आकर तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाते हैं। यह खेल है। इसको अगर समझेंगे नहीं तो स्वर्ग में कभी आयेंगे नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप के संग से स्वयं को पारसबुद्धि बनाना है। सम्पूर्ण निर्विकारी बनना है। कुसंग से दूर रहना है।

2) सदा इसी खुशी में रहना है कि हम स्वदर्शन चक्रधारी सो नई दुनिया के मालिक चक्रवर्ती बनते हैं। शिवबाबा आये हैं हमें ज्ञान सूर्यवंशी बनाने। हमारा लक्ष्य ही यह है।

वरदान:- निमित्त कोई भी सेवा करते बेहद की वृत्ति द्वारा वायब्रेशन फैलाने वाले बेहद सेवाधारी भव
अब बेहद परिवर्तन की सेवा में तीव्र गति लाओ। ऐसे नहीं कर तो रहे हैं, इतना बिजी रहते हैं जो टाइम ही नहीं मिलता। लेकिन निमित्त कोई भी सेवा करते बेहद के सहयोगी बन सकते हो, सिर्फ वृत्ति बेहद में हो तो वायब्रेशन फैलते रहेंगे। जितना बेहद में बिजी रहेंगे तो जो ड्युटी है वह और ही सहज हो जायेगी। हर संकल्प, हर सेकण्ड श्रेष्ठ वायब्रेशन फैलाने की सेवा करना ही बेहद सेवाधारी बनना है।
स्लोगन:- शिव बाप के साथ कम्बाइन्ड रहने वाली शिवशक्तियों का श्रंगार है ज्ञान के अस्त्र-शस्त्र।

TODAY MURLI 24 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 May 2018 :- Click Here

24/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, surrender everything you have, including your body, and then take care of it all as a trustee and your attachment will be removed from it.
Question: What method should each Brahmin child definitely learn?
Answer: Definitely learn the method of doing service. Have the interest to prove who God is. You have received the Father’s shrimat: Become sensible and give everyone the Father’s message. Print such good introduction cards that people come to know that calling God omnipresent is to insult Him. You children can serve pilgrims very well.
Song: What can storms do to those whose Companion is God?

Om shanti. You children heard the song. Only you children understand the meaning of this, because those who sang this song don’t understand the meaning of it at all. Neither do they have God with them nor do they know when God comes and gives His children their inheritance of heaven. The Father Himself came and personally gave His children His introduction. That Father is now personally sitting in front of you and you are listening to Him. Only you understand the meaning of ‘storms’. Those people consider calamities to be storms. The storms that you experience are the storms of the five vices of Maya. Maya creates many obstacles to your efforts. However, you must not be concerned about them. Simply remember Baba very well and the storms will go away. The son of an emperor would have the faith that his father is an emperor and that he is the master of that sovereignty; he would have that intoxication. Among you children too, some of you have this firm faith and have made the Father belong to you. To make Him belong to you is not like going to your aunty’s home! Mine is one Shiv Baba and none other, that’s all! Many children don’t understand these things which is why the storms of Maya harass them and they then leave the Father. No one in the world knows God accurately. You children were originally residents of the Temple of Shiva (Shivalaya). This is now a brothel. At this time, human beings have become worse than monkeys. The anger of human beings is worse than that of monkeys. Even though they are human beings, they perform such actions, and this is why they are called worse than monkeys. No one knows who the greatest enemy of Bharat is, the one who made them worse than monkeys. The Father says: Look at your face in the mirror of your heart and see what were you before! The Father is now making you worthy. However, Maya makes those who don’t follow shrimat unworthy. The Father gives you shrimat: Surrender everything you have including your bodies. Then Baba will make you trustee s and enable you to end your attachment to them. It is very easy for you innocent mothers. When the kings of Rajasthan don’t have their own children, they adopt children. When wealthy parents adopt a poor child, he becomes so happy: I am a master of so much property. Children of wealthy people also have a lot of intoxication that they are the children of multimillionaires. They don’t know anything about this knowledge. You know how you have so much intoxication of this knowledge. By following shrimat, you become elevated whereas by not following shrimat, you don’t become elevated. God says: You don’t have to be concerned about anything. Day and night, you should have the intoxication that Baba is giving you the inheritance of the kingdom of heaven for 21 births. We have become Baba’s children. In fact, all are children of Shiv Baba, but Shiv Baba has now come and made you His children in a practical way. You are now sitting here personally and you know that Shiv Baba has made you belong to Him and is giving you directions to make you worthy of heaven: Children, don’t become trapped in anyone’s name or form. Only keep the name and form of Shiv Baba in your intellects. His name and form are different from those of human beings. The Father says: You used to belong to Me. You used to live in the land of nirvana. Have you souls forgotten that you are residents of the supreme abode, the land of peace, the land of nirvana (beyond sound) and that your original religion is peace? Those bodies are the organs with which to perform actions. How else would you play your part s? You don’t know at all that we souls are residents of the incorporeal world. Only human beings would know all of these things; animals would not know them. They have said that God is omnipresent and they have thereby forgotten that they themselves are souls. They say that the Supreme Father, the Supreme Soul, sent Christ and Abraham here. Therefore, it was surely the Father who sent them here. You know that everyone continues to come here according to the drama. There is no question of sending anyone anywhere. At this time, human beings are in the darkness of ignorance. They neither know the Father nor themselves or creation. I am a soul and this body is separate. We souls have come from there. Baba alone reminds us of all of these things and He says: Remind everyone else too. You have had very good invitation cards printed. They also have a picture of Shiva. This is Baba, and this is Lakshmi and Narayan, the inheritance. It is written: Come and claim your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, to become like Lakshmi and Narayan. You are students who are changing from human beings into Narayan. When children of wealthy people study, they become so happy. However, they are nothing compared to us. They make effort for temporary happiness. You children will receive constant happiness. Only you can say this. Wherever you go, you should always have invitation cards with you. Explain to them: It is written on the card: “This is the Father of all souls, the Creator of heaven, and how you can receive the inheritance of heaven from Him.” You can drop these invitation cards from aeroplanes. You can even print it in newspapers. Then, big, eminent people will receive an invitation. These aeroplanes are for destruction and also for your service. Poor people cannot do this work, but the Father is the Lord of the Poor. Only the poor receive the inheritance. Wealthy people are trapped by attachment. Their hearts shrink in surrendering themselves. It is only at this time that the fortune of kumaris and mothers becomes bright. The Father says: I have to uplift Bharat, sages, scholars and holy men through you mothers. As you progress further, they will all come. At the moment, they think that there is no one like them. They don’t know that the Father taught you Raja Yoga while you were living at home. Their hatha yoga and renunciation of karma is separate. God definitely comes and makes you into the masters of heaven. Therefore, you should have so much happiness. On the path of devotion, Baba used to keep a picture of Lakshmi and Narayan with him with a lot of love. He would be very happy seeing the picture of Shri Krishna. Baba explains to you children: If you want to benefit yourselves and others, keep yourself busy in service. The aim and objective is very clear. The inheritance is the deity world sovereignty. Up above is Shiv Baba and below Him are Lakshmi and Narayan. It is so easy to explain this. So, invite everyone! You are definitely to receive the inheritance of heaven from the unlimited Father. You must definitely distribute these leaflets where many people go. No one can say anything to you. If anyone does say something, we can explain and prove to him: How can you say that the Father from whom we receive the inheritance of heaven is omnipresent? The Father says: Look, you are insulting Me in this way. I made you into the masters of heaven and you then said that I am in the pebbles and stones! You are now receiving shrimat: Distribute many of these leaflets. Groups of people go on the pilgrimage to Amarnath and you can go there and distribute these leaflets. Written on them should be: I cannot be found by having sacrificial fires, doing tapasya and going on pilgrimages etc. However, those who explain to them have to be sensible. You have to explain that He is God, the Father. When you simply say, “Bhagwan, Ishwar, Paramatma”, the word ‘Father’ is not included. When you say “God the Father” , the word ‘Father’ is included. All of us are children of the one Father. If God is omnipresent, has He now become impure? He is the Highest on High. There is also a temple built as a memorial to Him. Therefore, you children should have the interest to do service tactfully. You can go on pilgrimages and do a lot of service. Those people are physical pilgrims whereas you are spiritual pilgrims. You should explain to them: Where are you going? Shankar and Parvati reside in the subtle region. How could they have come here? All of that is the path of devotion. So, you can do a lot of service in this way. Devotees, poor people, are stumbling around everywhere. Baba feels sorry for them. Tell them: You have forgotten your religion. Who established the Hindu religion? There is a lot of service to be done. You children have to become alert. The Father has come to give you the inheritance of heaven but, in spite of that, Maya catches hold of you by the nose and completely turns your face in the opposite direction. Therefore, remain very careful of Maya. You children are now sitting personally in front of BapDada. The world doesn’t know that the Father has personally come here. The light of all souls has been extinguished. It hasn’t been totally extinguished; a little light still remains. Then Baba comes and pours in the oil of knowledge. When a person dies, people light an earthenware lamp. Here, the lights of souls are awakened with yoga. You continue to imbibe knowledge. The ancient Raja Yoga of Bharat is very well known. Those of the path of isolation teach many different types of hatha yoga. There is no benefit through that; they continue to come down. No one except Yogeshwar (God of yoga) can teach yoga. It is God who teaches you yoga. He is incorporeal. The Father says: I am teaching you yoga. Your part s of 84 births have now ended. Some take 84 births, some take 60 and some even take one or two births. You children have to do a lot of service. Bharat itself was heaven ; it was the kingdom of gods and goddesses. No one, apart from you, can explain these things. You are the ones who have to take insults. Baba had to take them, so can’t you children do the same? You have to tolerate the assaults. That too is fixed in the drama. The same will happen again. I am now making the intellects of you children divine. You should remember a great deal the Father who makes you into the masters of the world. He says: Children, may you remain alive! Claim the kingdom of heaven. Can you not remember such a sweet Father? Only by having remembrance will your sins be absolved. Any account of sin that still remains has to be settled here. If you don’t have yoga, there will have to be punishment. At that time, Baba will grant you visions: You belonged to Me, you divorced Me and then became a traitor. You had visions in the beginning too. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children who are always safe and sound, love, remembrance and good morning from the Mother and Father. You children have to understand that you will shed your bodies and go to your sweet home. There is no pleasure at all in living here. We are now going to Baba. We have to remember Baba alone. From there, we will then go to the land of heaven. This pilgrimage is so wonderful ! Maya causes a lot of obstacles in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep the name and form of Shiv Baba alone in your intellect. Do not become trapped in the name or form of anyone else.
  2. Don’t be concerned about the storms of Maya. Mine is one Shiv Baba and none other: remove all storms in this way.
Blessing: May you be a constant (non stop – akhand) server remaining free from any spinning of wasteful thoughts and do service free from obstacles.
Everyone does service, but those who remain free from obstacles while serving have greater importance. Let there not be any type of obstacle in service. If there is any type of obstacle of the atmosphere, of the company or of laziness, that service is then damaged. A constant server can never be caught up in any obstacle. Let there not be the slightest obstacle even in your mind. Remain free from all the spinning of waste and you will be said to be a successful and constant server.
Slogan: Those whose heads and hearts are honest are worthy of the Father’s and the family’s love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 May 2018

To Read Murli 23 May 2018 :- Click Here
24-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह सहित तुम्हारे पास जो कुछ भी है वह सब बलि चढ़ा दो फिर ट्रस्टी बन सम्भालो तो ममत्व निकल जायेगा”
प्रश्नः- हरेक ब्राह्मण बच्चे को कौन-सी युक्ति जरूर सीखनी चाहिए?
उत्तर:- सर्विस करने की युक्ति जरूर सीखो। शौक होना चाहिए कि कैसे सिद्ध कर बतायें – परमात्मा कौन है। तुम्हें बाप की श्रीमत मिली हुई है – सेन्सीबुल बन सबको बाप का पैगाम सुनाओ। ऐसे अच्छे-अच्छे पर्चे, कार्ड छपाओ जो मनुष्यों को पता पड़े कि परमात्मा को सर्व-व्यापी कहना उनकी इन्सल्ट करना है। तुम बच्चे तीर्थ यात्रियों की बहुत सर्विस कर सकते हो।
गीत:- जिसका साथी है भगवान….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। बच्चे ही इसका अर्थ समझते हैं बाकी जिन्होंने गीत गाया वह इसका अर्थ कुछ भी नहीं समझते। न उन्हों के साथ भगवान है, न उन्हों को यह पता है कि भगवान कब आकर अपने बच्चों को स्वर्ग का वर्सा देते हैं। बाप ने ही आकर बच्चों को सम्मुख में अपना परिचय दिया है। वही बाप अब सम्मुख बैठे हैं और तुम सुनते हो। तुम ही त़ूफानों को समझते हो। वो लोग तो कैलेमिटीज़ आदि को तूफान समझ लेते हैं। यह तो 5 विकार रूपी माया के त़ूफान आते हैं। पुरुषार्थ में माया बहुत विघ्न डालती है। परन्तु उसकी परवाह नहीं करनी चाहिए। सिर्फ बाबा को अच्छी रीति याद करने से ही त़ूफान उड़ जाते हैं। बादशाह का बच्चा होगा, उनको यह निश्चय होगा कि हमारा बाबा बादशाह है। इस बादशाही का मैं मालिक हूँ। नशा रहता है। तुम बच्चों में भी कोई-कोई को ऐसा पक्का निश्चय है और बाप को अपना बनाया है। अपना बनाना कोई मासी का घर नहीं है। बस, मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। बहुत बच्चे इन बातों को समझते नहीं हैं इसलिए माया के त़ूफान हैरान करते हैं और फिर बाप को ही छोड़ देते हैं। दुनिया में भगवान को यथार्थ रीति कोई नहीं जानते। तुम बच्चे असुल में शिवालय के रहने वाले थे। अब वेश्यालय है। इस समय मनुष्य बन्दर से भी बदतर बन गये हैं। मनुष्य का क्रोध बन्दर से भी तीखा है। मनुष्य होते भी ऐसा काम करते हैं इसलिए उनको बन्दर से भी बदतर कहा जाता है। भारतवासियों का सबसे बड़ा दुश्मन कौन है, जिसने उन्हों को बन्दर से भी बदतर बनाया है – यह कोई नहीं जानते। बाप कहते हैं तुम दिल रूपी दर्पण में अपनी शक्ल देखो। तुम पहले क्या थे! अब बाप तुमको लायक बनाते हैं। परन्तु जो श्रीमत पर नहीं चलते तो माया उनको नालायक बना देती है।

बाप श्रीमत देते हैं – देह सहित जो कुछ भी तुम्हारे पास है वह सब बलि चढ़ो। फिर तुमको ट्रस्टी बना देंगे। तुम्हारा ममत्व मिटा देंगे। तुम अबलाओं के लिए बहुत सहज है। राजस्थान के तऱफ राजाओं को अपने बच्चे नहीं होते हैं तो गोद लेते हैं। गरीब का बालक अगर साहूकार की गोद में जाता है तो कितना खुश होता है – हम इतनी प्रापर्टी के मालिक हैं! बड़े आदमियों के बच्चों को भी बहुत नशा रहता है कि हम करोड़पति के बच्चे हैं। इस ज्ञान का तो उनको पता ही नहीं है। तुम जानते हो कि इस ज्ञान में कितना भारी नशा रहता है! श्रीमत पर चलने से श्रेष्ठ बनेंगे, नहीं चलने से नहीं बनेंगे। भगवान कहते हैं तुमको तो कोई किस्म की परवाह ही नहीं। रात-दिन तुमको नशा रहना चाहिए कि हमको बाबा 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की राजाई का वर्सा देते हैं। हम बाबा की सन्तान बने हैं। वास्तव में सब शिवबाबा की सन्तान हैं। परन्तु अब शिवबाबा आकर प्रैक्टिकल में अपना बच्चा बनाते हैं। अभी तुम सम्मुख बैठे हो, जानते हो शिवबाबा हमको अपना बनाकर स्वर्ग के लायक बनाने लिए मत देते हैं कि बच्चे, किसके नाम-रूप में नहीं फँसना है। एक शिवबाबा का नाम-रूप ही बुद्धि में रखना है। उनका नाम-रूप ही मनुष्यों से न्यारा है। बाप कहते हैं तुम हमारे थे, निर्वाणधाम में रहने वाले थे। क्या तुम भूल गए हो कि हम आत्मा परमधाम, शान्तिधाम अथवा निर्वाणधाम की रहने वाली हैं? हमारा स्वधर्म शान्त है। यह शरीर आरगन्स हैं कर्म करने के लिए। नहीं तो पार्ट कैसे बजायेंगे? हम आत्मा निराकारी दुनिया की रहवासी हैं – यह बिल्कुल नहीं जानते। यह सब बातें मनुष्य ही जानेंगे, जानवर थोड़ेही जानेंगे। परमात्मा को सर्वव्यापी कह दिया है तो खुद को भी भूल गये हैं कि हम आत्मा हैं। कहते हैं क्राइस्ट को, इब्राहम को परमपिता परमात्मा ने भेजा। तो जरूर कोई बाप है भेजने वाला। यह तो तुम जानते हो कि ड्रामा अनुसार हर एक आता रहता है। भेजने करने का तो सवाल ही नहीं उठता। इस समय मनुष्य अज्ञान अन्धेरे में हैं। न बाप को, न अपने को, न रचना को जानते हैं। मैं आत्मा हूँ, यह शरीर अलग है। हम आत्मा वहाँ से आये हैं – यह सब बातें बाबा ही याद दिलाते हैं। और बाप कहते हैं सभी को याद दिलाओ। तुम्हारा निमंत्रण बहुत अच्छा छपा हुआ है। शिव का चित्र भी है। यह बाबा, यह लक्ष्मी-नारायण है वर्सा। लिखा हुआ है परमपिता परमात्मा से आकर लक्ष्मी-नारायण जैसा बनने का वर्सा लो। तुम नर से नारायण बनने के स्टूडेन्ट हो। वह साहूकार आदि के बच्चे पढ़ते होंगे तो कितना खुश होते होंगे! परन्तु हमारे आगे तो वह कुछ भी नहीं है। अल्पकाल के सुख लिए मेहनत करते हैं। तुम बच्चे सदा सुख पाते हो। यह भी तुम ही कह सकते हो। कहाँ भी जाओ हाथ में निमंत्रण पत्र हो। बोलो, यह सभी आत्माओं का बाप स्वर्ग का रचयिता है, उनसे वर्सा कैसे मिलता है सो लिखा हुआ है। यह निमंत्रण एरोप्लेन से गिरा सकते हो। अखबार में भी डाल सकते हो। बड़े-बड़े को निमंत्रण मिल जायेगा। यह एरोप्लेन विनाश के लिए भी है तो तुम्हारी सर्विस के लिए भी है। यह काम गरीब तो कर न सकें परन्तु बाप है ही गरीब निवाज़। गरीब ही वर्सा पाते हैं। साहूकार तो ममत्व में फँसे हुए हैं। सरेन्डर होने में हृदय विदीर्ण होता है। कन्याओं-माताओं का इस समय ही भाग्य उदय होता है।

बाप कहते हैं इन माताओं द्वारा ही भारत का और साधू-सन्त, विद्वानों का उद्धार करना है। आगे चलकर वह सब आयेंगे। अभी वो लोग समझते हैं – हमारे जैसा कोई है नहीं। वह यह नहीं जानते कि गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप ने राजयोग सिखाया है। उन्हों का हठयोग कर्म-सन्यास अलग है। भगवान तो जरूर आकर स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। तो तुमको कितनी खुशी रहनी चाहिए! बाबा भक्ति में भी लक्ष्मी-नारायण के चित्र को बहुत प्यार से साथ में रखते थे। श्रीकृष्ण के चित्र को देख बहुत खुश होते थे। बाबा बच्चों को समझाते हैं कि अपना और दूसरों का कल्याण करना है तो सर्विस में लग जाओ। एम ऑबजेक्ट तो बहुत क्लीयर है। वर्सा है डीटी वर्ल्ड सावरन्टी। ऊपर शिवबाबा, नीचे लक्ष्मी-नारायण, कितना सहज है समझाना! तो सबको निमंत्रण देना है। बेहद के बाप से स्वर्ग का वर्सा जरूर मिलना है। जहाँ बहुत लोग जाते हैं वहाँ यह पर्चे जरूर फेंकने चाहिए। कोई कुछ कह नहीं सकता। अगर कोई कहे तो हम सिद्ध कर समझायेंगे कि बाप, जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है, उनको तुम सर्वव्यापी कहते हो! बाप कहते हैं – देखो, यह मेरी इन्सल्ट करते हो! मैं स्वर्ग का मालिक बनाता, मुझे फिर भित्तर-ठिक्कर में डाल दिया है! अब तुम्हें श्रीमत मिलती है कि यह पर्चे खूब बाँटो। अमरनाथ की यात्रा पर झुण्ड जाता है – वहाँ जाकर बॉटो। इसमें लिखा हुआ है – यज्ञ, तप, तीर्थ आदि से मैं नहीं मिलता हूँ। परन्तु समझाने वाला सेन्सीबुल चाहिए। समझाना चाहिए वह है गॉड फादर। सिर्फ भगवान, ईश्वर, परमात्मा कहने से पिता अक्षर नहीं आता। गॉड फादर कहने से पिता अक्षर आता है। हम सभी एक फादर के बच्चे ठहरे। परमात्मा सर्वव्यापी है तो क्या परमात्मा पतित हो गया? वह तो है ऊंचे ते ऊंचा। उनका यादगार मन्दिर भी है। तो बच्चों को युक्ति से सर्विस करने का शौक चाहिए। यात्रा पर जाकर बहुत सर्विस कर सकते हो। वह है जिस्मानी यात्री, तुम हो रूहानी यात्री। समझाना चाहिए तुम कहाँ जाते हो। शंकर-पार्वती तो सूक्ष्मवतन में रहते हैं। यहाँ वह कहाँ से आये। यह सब है भक्तिमार्ग। तो ऐसे तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। भक्त बिचारे बहुत धक्के खाते रहते हैं, तो उन पर तरस पड़ता है। उनको बोलो – तुम अपने धर्म को भूले हुए हो। हिन्दू धर्म किसने स्थापन किया? सर्विस तो बहुत है। बच्चों को खड़ा होना चाहिए। बाप आया है स्वर्ग का वर्सा देने फिर भी माया नाक से पकड़ एकदम मुंह फिरा देती है इसलिए माया से बहुत खबरदार रहना है। अभी तुम बच्चे बापदादा के सम्मुख बैठे हो। दुनिया को थोड़ेही मालूम है कि बाप सम्मुख आये हैं। सब आत्माओं की ज्योत बुझी हुई है। एकदम बुझ नहीं जाती है, थोड़ी लाइट रहती है। फिर बाबा आकर ज्ञान-घृत डालते हैं। जब कोई मरता है तो दीवा जगाते हैं। यहाँ योग से आत्मा की ज्योत जगाई जाती है। ज्ञान की धारणा करते रहते हैं। भारत का प्राचीन राजयोग मशहूर है। वह निवृत्ति मार्ग वाले तो अनेक प्रकार के हठयोग सिखलाते हैं। फायदा कुछ भी नहीं। नीचे गिरते ही जाते हैं। सिवाए योगेश्वर के कोई योग सिखला न सके। योग सिखलाने वाला है ईश्वर, वह है निराकार।

बाप कहते हैं तुमको अब योग सिखला रहा हूँ। अब तुम्हारा 84 का पार्ट पूरा हुआ। कोई के 84 जन्म, कोई के 60, कोई के एक दो जन्म भी होते हैं। तुम बच्चों को खूब सर्विस करनी है। भारत ही हेविन था। गॉड-गॉडेज का राज्य था। यह बातें तुम्हारे सिवाए कोई समझा न सके। गाली भी तुमको खानी पड़ती है। बाबा गाली खायेंगे तो क्या बच्चे नहीं खायेंगे। सितम सहन करेंगे। यह भी ड्रामा में नूँध है। फिर भी ऐसे ही होगा। अभी तुम बच्चों को पारस बुद्धि बनाता हूँ। ऐसे बाप को बहुत याद करना चाहिए – जो विश्व का मालिक बनाते हैं। कहते हैं बच्चे जीते रहो। स्वर्ग का राज्य लो। ऐसे मीठे-मीठे बाप को तुम याद नहीं कर सकते हो? याद से ही विकर्म विनाश होंगे। रहा हुआ पापों का खाता यहाँ चुक्तू करना है। अगर योग नहीं लगायेंगे तो सजा खानी पड़ेगी। उस समय बाबा साक्षात्कार भी कराते हैं – तुम हमारे बनकर फिर फारकती दे तुम ट्रेटर बन गये। तुमने शुरूआत में साक्षात्कार भी किया है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे सदा सलामत बच्चों को मात-पिता का याद, प्यार और गुडमार्निंग। बच्चों को समझना है कि हम यह शरीर छोड़ स्वीट होम में जायेंगे। अब यहाँ रहने में ज़रा भी मजा नहीं है। अब हम बाबा के पास जाते हैं। बाबा को ही याद करना है। वहाँ से फिर स्वर्गधाम में जायेंगे। यह यात्रा बड़ी वन्डरफुल है, इसमें माया बहुत विघ्न डालती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक शिवबाबा का नाम-रूप बुद्धि में रखना है और किसी के भी नाम-रूप में फँसना नहीं है।

2) माया के त़ूफानों की परवाह नहीं करनी है। मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई…. इस विधि से त़ूफान हटा देने हैं।

वरदान:- सब व्यर्थ पों से मुक्त रह निर्विघ्न सेवा करने वाले अखण्ड सेवाधारी भव
सेवा तो सब करते हैं लेकिन जो सेवा करते भी सदा निर्विघ्न रहते हैं, उसका बहुत महत्व है। सेवा के बीच में कोई भी प्रकार का विघ्न न आये। वायुमण्डल का, संग का, आलस्य का….यदि कोई भी विघ्न आया तो सेवा खण्डित हो गई। अखण्ड सेवाधारी कभी किसी विघ्न में नहीं आ सकते। जरा संकल्प मात्र भी विघ्न न हो। सब व्यर्थ पों से मुक्त रहो तब सफल और अखण्ड सेवाधारी कहेंगे।
स्लोगन:- जो दिल और दिमाग से ऑनेस्ट हैं, वही बाप वा परिवार के प्यार के पात्र हैं।
Font Resize