daily murli 24 june

TODAY MURLI 24 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 June 2020

24/06/20
Madhuban
Mateshwari
Om Shanti
26/04/65

When you souls become clean, this world will become a world that gives happiness. The reason for sorrow is actions performed under the influence of the five vices. (Invaluable versions of Mateshwariji.)

Song: The eyes do not know, but the heart recognises…

You heard the praise of your unlimited Father. There cannot be such praise of common human beings. This praise is of the One who has the right to this praise, because His praise is sung according to His activities. His activities are greater than those of all human beings, because His activities are for all human beings. So, He has become the highest of all, because there is only one Bestower of Liberation and Salvation for all. You cannot say that He granted liberation and salvation to only a few. He is the Bestower of Liberation and Salvation for all. So, He is the authority for everyone, is He not? In any case, if you look at it in a common way, praise is only sung of someone when he carries out a task. Those who have carried out such tasks are praised. So, the Father’s praise is that He is the Highest on High. He must have definitely come here and carried out a great task and that must have been for us, for the world of humans. He carried out a great and elevated task for this world, because He is known as the Sustainer of this world. So, He came and made the world so elevated. He transformed everything including the elements. However, with which method did He bring about transformation? He sits and explains this, because it isn’t that human souls bring about a change in souls or that, with the power of souls, with the power of your actions, all of that power works on matter and the elements. In fact, He is the one who creates, and if He creates, how does He create? When souls become elevated, the bodies, the elements, matter, etc. all come into their power numberwise on the basis of the soul, and it is through this that the whole world becomes fruitful (green and fresh) and happy.

The Father who makes the human world happy knows how the human world is going to become happy. Until souls become clean (pure), the world cannot be happy and this is why He first comes and makes souls clean. Now, souls are in a state of impurity (unclean). So, first this impurity has to be removed. Then, with the power of souls, everything that is impure (tamopradhan) will become pure (satopradhan), which is referred to as everyone becoming golden aged. So, all these elements, etc. come into their golden-aged stage, but first, the stage of souls has to change. So, He is the Authority who changes souls, that is, who purifies souls. You can see that the world is now changing. First we have to change ourselves and, when we have changed ourselves, on that basis, the world will change. If there isn’t any change in ourselves even now, if we haven’t changed ourselves, then how will the world change? So, check yourselves every day. Those who keep their accounts check them every night to see how much they have accumulated. Each one keeps his own accounts. So, here, too, you have to keep your chart as to how much profit and how much loss there was throughout the day. If there was greater loss, then there has to be more caution the next day. By paying attention in this way, by making more profit, we will be able to reach our position. So, by checking yourself in this way, you will experience a change in yourself. Do not think, “I will become a deity, but that will be later, whatever I am now is fine.” No; those deity sanskars have to be created now. Whatever sanskars we had under the influence of the five vices, we now have to see whether we are becoming free from those vices. Is the anger that there was in me being removed? Are the sanskars of the vices of greed and attachment changing? If these are changing and you are becoming free, then understand that you are changing. If you are not becoming free of these, then you can understand that you have not changed. So you should feel yourself changing; there has to be some change in yourself. Let it not be that throughout the day, you continue to move along on the basis of the account of vices and, just because you have given a little donation or performed some charity, that is fine; no. We have to take care of ourselves with the account of our actions. Whatever you are doing, check that you are not creating an account of vice by doing something under the influence of vice. You have to take care of yourself in this. You have to keep this whole account. Before going to sleep, check yourself for ten to fifteen minutes as to how your day went. Some even note it down. This is because the burden of past sins on your head has to be removed, and for that, the Father’s direction is: Remember Me. So, how much time did you give for remembrance? By keeping this chart, you will remain cautious the next day. By cautioning yourself in this way, you will be cautious, and then you will continue to perform good actions and you will not commit any such sins. So, you have to save yourself from performing sins.

These vices have made us bad. We have become unhappy because of the vices. We now have to become free from sorrow and this is the main thing. On the path of devotion, we call out to God and we remember Him. Whatever efforts we make, what are we doing those for? We do those for happiness and peace. So, we are made to have this practical practice at this time. This is the college for doing it practically. By practising this, we will become clean, that is, we will continue to become pure. Then, our aim of the original, eternal, pure family will be attained. For instance, someone would go to a medical college to become a doctor, and he would become a doctor by having some medical practice (practical experience). In this way, in this college, we too will continue to become free from these vices, that is, from sinful actions, with this study, that is, with this practice. So, what then is the degree of being clean? Deity.

These deities have been remembered and their praise is: full of all virtues, sixteen celestial degrees full, fully viceless… So, how will we become like that? It isn’t that we have already become that. No. We have to become that, because we have been spoilt and we have to become that again. It isn’t that there is another world of the deities. We human beings are going to become deities. Those deities have fallen and they now have to rise. In fact, the Father is teaching us how to rise. We now have to forge a relationship with Him. The Father has now come and enlightened us: Ultimately, you belong to Me, so how can you always be Mine? In lokik life, how do the children continue to belong to their father and the father to his children? In the same way, you have to continue to move along belonging to Me with your body, mind and wealth. How do you move along? The example of that is this Dada in whose body He comes. He has given everything – his body, mind and wealth – and is moving along belonging to Him. Follow the Father in the same way. There is nothing to ask about or to be confused about in this. It is a simple and straight-forward matter. So, now continue to move along. Let it not be that you hear a lot and imbibe only a little. No, listen to a little and imbibe a lot. How do you put into a practical form everything that you have heard: continue to think about this fully. Continue to move forward with your practice. Let it not be that you just simply continue to listen and listen… No. Whatever you heard today, if anyone were to put that into a practical form such as: “That’s it, from today, I will continue in this stage. I will not perform any such actions under the influence of vices, and I will make my daily timetable in this way, I will keep my chart like this…” If someone were to put this into practice in a practical way, then just see what he would become. Whatever was said just now, that has to be put into a practical form. Whatever you say, whatever you hear, do that. That is all. Nothing else. Simply pay attention to your actions. Do you understand? Just as you know both Bap and Dada very well, do you not? So, now, follow them. To the worthy, obedient children who follow them, that is, to such sweet, sweet children, love, remembrance and good morning.

Second murli: 1957

Song: Look at my tiny world…

When was this song sung? Because it is only now at the confluence age that there is this small world of the Brahmin clan. Which family of ours is this that is shown numberwise. We are the grandchildren of the Supreme Father, the Supreme Soul. We are the mouth-born children of Brahma and Saraswati, and Vishnu and Shankar are our uncles, and we are all related to one another as brothers and sisters. This is our small world. No more relationships other than these are created. At this time, we only have these relations. Look, we are related to such a great Authority. Our Granddad is Shiva and His name is so grand. He is the Seed of the whole human world. Because He gives benefit to the whole world, He is called Har Har Bholanath Shiva Mahadev (The Innocent Lord Shiva, the Great Deity who removes all sorrow). He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness for the whole world. We receive a huge right to happiness, peace and purity from Him. In that peace, there are no karmic accounts of karmic bondage. However, the basis of both of these (peace and happiness) is purity. Until we claim the full inheritance of the Father’s sustenance, until we receive the certificate from the Father, we cannot receive that inheritance. Look, Brahma has so much work to do. He makes beautiful the souls who have become dirty, unclean and impure with the five vices. The reward of that alokik task is received in the golden age as the first number status of Shri Krishna. Look what your relationship is with that Father. So, you have to remain so carefree and happy. Now, let each one of you ask your heart: Do I belong to Him completely?

Think about this: Since the Father, the Supreme Soul, has come, we should claim our complete inheritance from Him. It is a student’s duty to make full effort to claim a scholarship. So, why should we not win the number one lottery? That is to be threaded in the rosary of victory. However, there are some who are sitting holding two ladoos (Something in each hand. A foot in two boats). They want to experience the limited happiness here and also a little happiness of the world of Paradise. Those who have such thoughts are said to be medium or low level effort-makers, not those who are most elevated effort-makers. Since the Father does not compromise in any way in giving, why are those who are receiving it doing that? This is why Guru Nanak had said: God is the Bestower. He is the Almighty, but souls do not even have the power to take. There is a saying: The One giving doesn’t get tired giving, but those who are receiving get tired receiving. It may have entered your hearts: Why would I not wish to have that status? However, look how much effort Baba makes, and even then, Maya causes so many obstacles. Why? Maya’s kingdom is now going to finish. Maya has now taken away all sweetness, and it is then that God comes. He is filled with all sweetness. We receive the sweetness of all relationships from Him and this is why it is sung in praise of God: You are the Mother, you are the Father… So, the greatness is of the time when we have this relationship with Him.

So, we have to forge a complete relationship with God, so that we receive happiness for 21 births. This is the reward of our efforts. However, don’t become cold on hearing about 21 births. Do not think: We have to make effort for this much time for 21 births, and then, even after 21 births, we still have to fall, and so what have we achieved? However, according to the drama, whatever elevated rewards are fixed for souls, they will be received, will they not? The Father comes and enables us to reach our complete and perfect stage, but we children forget Baba and so we will surely fall. The Father cannot be blamed for that. It is the weakness of us children. All the happiness of the golden and silver ages is based upon the efforts of this birth, and so why should we not make full effort and play our most elevated parts? Why should we not make effort and claim that inheritance? Human beings always make effort to receive happiness. No one makes effort to go beyond happiness and sorrow. It is at the end of the drama that God comes, gives the consequences (punishment) to all souls, purifies them and liberates them from their parts. This is God’s task and He will come at His fixed time and tell us this. Since you souls have to come and play your parts again, why not play the most elevated part? Achcha.

To the sweet, sweet children, love and remembrance from the Mother. Om shanti.

Blessing: May you always be unshakeable and immovable and with the awareness of the word “Baba”, transform the word “reason” into “solution”.
As soon as you say “Baba” for a situation of fluctuation, you become unshakeable. When you start thinking about the situation, you experience difficulty. If, instead of thinking about the reason, you start to think about the solution, then the reason itself will become the solution because situations are not even like ants in front of master almighty authority Brahmins. Instead of just thinking about what happened or why it happened, think that whatever happened was something in which there was benefit, in which service was merged. Then, although it may seem like an adverse circumstance, but service is merged in it, and you will then always remain unshakeable and immovable.
Slogan: Those who stay under the influence of the one Father cannot be influenced by anyone else.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-06-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 26-04-65 मधुबन

“आप आत्मायें जब स्वच्छ बनो तब यह संसार सुखदाई बनें, दु:खों का कारण – 5 विकारों के वशीभूत होकर किये गये कर्म” (मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य)

गीत:- जाने न नज़र, पहचाने जिगर…

अपने बेहद बाप की महिमा सुनी। कॉमन मनुष्य की ऐसी महिमा नहीं हो सकती है। यह उसी एक की महिमा है जो इस महिमा का अधिकारी है क्योंकि उनकी महिमा उनके कर्तव्य अनुसार गाई जाती है। उनका कर्तव्य सब मनुष्य आत्माओं से महान है क्योंकि सभी मनुष्य आत्माओं के लिये ही उनका कर्तव्य है। तो सबसे ऊंचा हो गया ना क्योंकि सबके लिये सबका गति सद्गति दाता एक। ऐसे नहीं कहेंगे कि थोड़ों की गति सद्गति की। वह है सर्व का गति सद्गति दाता। तो सबकी अथॉरिटी हो गई ना। वैसे भी कॉमन तरह से देखा जाए तो महिमा तब ही होती है जब कोई कर्तव्य करता है। जिन्होंने कुछ-न-कुछ थोड़ा बहुत ऐसा काम किया है तो उनकी देखो महिमा है। तो बाप की भी जो महिमा है कि वह ऊंचे ते ऊंचा है, तो जरूर उसने यहाँ आ करके महान कर्तव्य किया है और वो हमारे लिये, मनुष्य सृष्टि के लिये महान ऊंच कर्तव्य किया क्योंकि इस सृष्टि का हर्ता कर्ता उसे कहा जाता है। तो उसने आ करके मनुष्य सृष्टि को ऊंच बनाया है। प्रकृति सहित सबको परिवर्तन में लाया है। लेकिन किस युक्ति से लाया है? वह बैठ करके समझाते हैं क्योंकि ऐसे नहीं है पहले मनुष्य आत्मा, आत्मा को चेन्ज लाने से फिर आत्मा के बल से, अपने कर्म के बल से फिर यह सब प्रकृति तत्व आदि पर भी उनका बल काम करता है। लेकिन बनाने वाला तो वह हो गया ना, इसलिये बनाने वाला वो परन्तु बनाते कैसे हैं? जब तक मनुष्य आत्मा ऊंची न बनें तब तक आत्मा के आधार से शरीर प्रकृति तत्व आदि यह सभी नम्बरवार उसी ताकत में आते हैं, उससे फिर सारी सृष्टि हरी-भरी सुखदाई बनती है।

तो मनुष्य सृष्टि को सुखदाई बनाने वाला बाप जानता है कि मनुष्य सृष्टि सुखदाई कैसे बनेगी? जब तक आत्मायें स्वच्छ नहीं बनी हैं तब तक संसार सुखदाई नहीं हो सकता है इसलिये वो आ करके पहले-पहले आत्माओं को ही स्वच्छ बनाते हैं। अभी आत्मा को इम्प्युरिटी (अस्वच्छता) लगी है। पहले उस इम्प्युरिटी को निकालना है। फिर आत्मा के बल से हर चीज़ से उनकी तमोप्रधानता बदल करके सतोप्रधानता होगी, जिसको कहेंगे कि सभी गोल्डन एजेड में आ जाते हैं, तो यह तत्व आदि सब गोल्डन एजेड स्टेज में आ जाते हैं। परन्तु पहले आत्मा की स्टेज बदलती है। तो आत्माओं का बदलाने वाला अर्थात् आत्माओं को प्यूरिफाईड बनाने वाला फिर अथॉरिटी वो हो गया। तुम देखते हो ना कि अभी दुनिया बदलती जा रही है। पहले तो अपने को बदलना है, जब हम अपने को बदलेंगे तब उसके आधार से दुनिया बदलेगी। अगर अभी तक हमारे में फर्क नहीं आया है, अपने को ही नहीं बदला है तो फिर दुनिया कैसे बदलेगी इसलिए अपनी जाँच रोज़ करो। जैसे पोतामेल रखने वाले रात को अपना खाता देखते हैं ना कि आज क्या जमा हुआ? सब अपना हिसाब रखते हैं। तो यह भी अपना पोतामेल रखना है कि सारे दिन में हमारा कितना फायदा रहा, कितना नुकसान रहा? अगर नुकसान में कुछ ज्यादा गया तो फिर दूसरे दिन के लिये फिर खबरदार रहना है। इसी तरह से अपना अटेन्शन रखने से फिर हम फायदे में जाते-जाते अपनी जो पोजीशन है उसको पकड़ते चलेंगे। तो ऐसी जाँच रखते अपने को बदला हुआ महसूस करना चाहिए। ऐसे नहीं कि हम तो देवता बनेंगे, वह तो पीछे बनेंगे, अभी जैसे हैं वैसे ठीक हैं…। नहीं। अभी से वह देवताई संस्कार बनाने हैं। अभी तक जो 5 विकारों के वश संस्कार चलते थे, अभी देखना है कि उन विकारों से हम छूटते जा रहे हैं? हमारे में जो क्रोध आदि था वह निकलता जा रहा है? लोभ या मोह आदि जो था वह सब विकारी संस्कार बदलते जा रहे हैं? अगर बदलते जा रहे हैं, छूटते जा रहे हैं तो मानो हम बदलते जा रहे हैं। अगर नहीं छूटते हैं तो समझो कि अभी हम बदले नहीं है। तो बदलने का फर्क महसूस होना चाहिए, अपने में चेन्ज आनी चाहिए। ऐसे नहीं कि सारा दिन विकारी खाते में ही चलते रहें, बाकी समझें कि हमने अच्छा कोई दान-पुण्य किया, बस। नहीं। हमारा जो कर्म का खाता चलता है, उसी में हमको सम्भलना है। हम जो कुछ करते हैं उसमें किसी विकार के वश हो अपना विकर्मी खाता तो नहीं बनाते हैं? इसमें अपने आपको सम्भालना है। यह सारा पोतामेल रखना है और सोने से पहले 10-15 मिनट अपने को देखना चाहिए कि सारा दिन हमारा कैसे बीता? कई तो नोट भी करते हैं क्योंकि पिछले पापों का जो सिर पर बोझ है उसे भी मिटाना है, उसके लिए बाप का फरमान है मुझे याद करो, तो वह भी हमने कितना समय याद में दिया? क्योंकि यह चार्ट रखने से दूसरे दिन के लिये सावधान रहेंगे। ऐसे सावधान रहते-रहते फिर सावधान हो जायेंगे फिर हमारे कर्म अच्छे रहते चलेंगे और फिर ऐसा कोई पाप नहीं होगा। तो पापों से ही तो बचना है ना।

हमको इन विकारों ने ही बुरा बनाया है। विकारों के कारण ही हम दु:खी हुए हैं। अभी हमें दु:ख से छूटना है तो यही मुख्य चीज़ है। भक्ति में भी परमात्मा को हम पुकारते हैं, याद करते हैं जो भी कुछ यत्न (पुरुषार्थ) करते हैं, वह किसलिये करते हैं? सुख और शान्ति के लिये करते हैं ना! तो उसकी यह प्रैक्टिकल प्रैक्टिस अभी कराई जाती है। यह प्रैक्टिकल करने की कॉलेज है, इसकी प्रैक्टिस करने से हम स्वच्छ अथवा पवित्र बनते जायेंगे। फिर हमारा जो आदि सनातन पवित्र प्रवृत्ति का लक्ष्य है वो हम पा लेंगे। जैसे कोई डाक्टर बनने के लिए डाक्टरी कॉलेज में जायेगा, तो डॉक्टरी प्रैक्टिस से डॉक्टर बनता जायेगा। इसी तरह से हम भी इस कॉलेज में इस पढ़ाई से अथवा इस प्रैक्टिस से इन विकारों से अथवा पाप कर्म करने से छूटते स्वच्छ होते जायेंगे। फिर स्वच्छ की डिग्री क्या है? देवता।

यह देवतायें तो गाये हुए हैं ना, उनकी महिमा है सर्वगुण सम्पन्न, सोलह कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी… तो ऐसे कैसे बनेंगे? ऐसे नहीं हम तो बने बनाये हैं, नहीं। बनना है क्योंकि हम ही बिगड़े हैं हमको ही बनना है। ऐसे नहीं देवताओं की कोई दूसरी दुनिया है। हम मनुष्य ही देवता बनने हैं। वह देवता ही गिरे हैं, अब फिर चढ़ना है। लेकिन चढ़ने का ढंग बाप सिखला रहे हैं। अभी उनके साथ हमें अपना रिलेशन जोड़ना है। अभी बाप ने आ करके रोशनी दी है, आखिर तुम मेरे हो अभी मेरे हो करके कैसे रहो। जैसे लौकिक में बाप बच्चों का, बच्चा बाप का कैसे होकर रहता है। ऐसे तुम तन, मन, धन से मेरे हो करके चलो। कैसे चलो! उसका आदर्श (प्रमाण) यह (बाबा) है जिसके तन में आता है, वह अपना तन मन धन सब उनके हवाले कर उनका होकरके चल रहे हैं। ऐसे फॉलो फादर। इसमें और कुछ पूछने की और मूँझने की बात नहीं है। सीधी साफ बात है। तो अभी चलते रहो। ऐसे नहीं सुनो बहुत और धारण करो थोड़ा। नहीं। सुनो थोड़ा धारण करो बहुत। जो सुनते हो उसको प्रैक्टिकल में कैसे लायें उसका पूरा ख्याल रखते रहो। अपनी प्रैक्टिस को आगे बढ़ाते रहो। ऐसे नहीं सुनते रहें, सुनते रहें…। नहीं। आज जो सुना उसको अगर कोई प्रैक्टिकल में लाये, बस हम आज से उसी स्टेज में चलेंगे। विकारों के वश होकर कोई ऐसा काम नहीं करेंगे और अपनी ऐसी दिनचर्या बनायेंगे, अपना ऐसा चार्ट रखेंगे। अगर इसको कोई प्रैक्टिकल प्रैक्टिस में लाये तो तो देखो क्या हो जायेगा। तो अभी जो कहा ना, उसको प्रैक्टिकल में लाना। जो कहते हो, जो सुनते हो वह करो। बस। दूसरी बात नहीं। सिर्फ करनी के ऊपर जोर दो। समझा। जैसे बाप और दादा दोनों को अच्छी तरह से जानते हो ना, ऐसे अब फालो करो। ऐसे फालो करने वाले जो सपूत बच्चे हैं अथवा मीठे-मीठे बच्चे हैं, ऐसे बच्चों प्रति यादप्यार और गुडमार्निंग।

दूसरी मुरली:- 1957

गीत:- मेरा छोटा-सा देखो ये संसार है…।

यह गीत किस समय का गाया हुआ है क्योंकि इस संगम समय ही हम ब्राह्मण कुल का यह छोटा-सा संसार है। यह हमारा कौन-सा परिवार है, वह नम्बरवार बतलाते हैं। हम परमपिता परमात्मा शिव के पोत्रे हैं, ब्रह्मा सरस्वती की मुख संतान हैं और विष्णु शंकर हमारे ताया जी हैं और हम आपस में सभी भाई बहन ठहरे। यह है अपना छोटा-सा संसार… इनके आगे और सम्बन्ध रचा ही नहीं है, इसी समय का इतना ही सम्बन्ध कहेंगे। देखो हमारा सम्बन्ध कितना बड़ी अथॉरिटी से है! हमारा ग्रैण्ड पप्पा है शिव, उनका नाम कितना भारी है, वो सारी मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। सर्व आत्माओं का कल्याणकारी होने कारण उनको कहा जाता है हर हर भोलानाथ शिव महादेव। वो सारी सृष्टि का दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है, उस द्वारा हमें सुख-शान्ति-पवित्रता का बड़ा हक मिलता है, शान्ति में फिर कोई कर्मबन्धन का हिसाब-किताब नहीं रहता। परन्तु यह दोनों वस्तु पवित्रता के आधार पर रखते हैं। जब तक पिता की परवरिश का पूर्ण वर्सा ले, पिता से सर्टीफिकेट नहीं मिला है, तब तक वो वर्सा मिल नहीं सकता। देखो, ब्रह्मा के ऊपर कितना बड़ा काम है – मलेच्छ 5 विकारों में मैली अपवित्र आत्माओं को गुलगुल बनाते हैं, जिस अलौकिक कार्य का उजूरा फिर सतयुग का पहला नम्बर श्रीकृष्ण पद मिलता है। अब देखो उस पिता के साथ तुम्हारा कैसा सम्बन्ध है! तो कितना बेफिकर और खुश होना चाहिए। अब हर एक अपनी दिल से पूछे हम उनके पूर्ण रीति हो चुके हैं?

सोचना चाहिए कि जब परमात्मा बाप आया है तो उनसे हम कम्पलीट वर्सा ले लेवें। स्टूडेन्ट का काम है सम्पूर्ण पुरुषार्थ कर स्कॉलरशिप लेना, तो हम पहला नम्बर लॉटरी क्यों न विन करें! वह है विजय माला में पिरोया जाना। बाकी कोई हैं जो दो लड्डू पकड़कर बैठे हैं, यहाँ का भी हद का सुख लूँ और वहाँ भी वैकुण्ठ में कुछ-न-कुछ सुख ले लेंगे, ऐसे विचारवान को मध्यम और कनिष्ठ पुरुषार्थी कहेंगे, न कि सर्वोत्तम पुरुषार्थी। जब बाप देने में आनाकानी नहीं करता तो लेने वाले क्यों करते हैं? तब गुरुनानक ने कहा परमात्मा तो दाता है, समर्थ है मगर आत्माओं को लेने की भी ताकत नहीं, कहावत है देंदा दे, लेंदा थक पावे। (देने वाला देता है लेकिन लेने वाला थक जाता है) आपके दिल में आता होगा हम क्यों नहीं चाहेंगे कि हम भी यह पद पायें परन्तु देखो, बाबा कितनी मेहनत करता है, फिर भी माया कितना विघ्न डालती है, क्यों? अब माया का राज्य समाप्त होने वाला है। अब माया ने सारा सार निकाल दिया है तब ही परमात्मा आता है। उसमें सब रस समाया हुआ है, उनसे सभी सम्बन्धों की रसना मिलती है तब ही त्वमेव माताश्च पिता… आदि यह महिमा उस परमात्मा की गाई हुई है, तो बलिहारी इस समय की है जो ऐसा सम्बन्ध हुआ है।

तो परमात्मा के साथ इतना सम्पूर्ण सम्बन्ध जोड़ना है जो 21 जन्मों के लिये सुख प्राप्त हो जाये, यह है पुरुषार्थ की सिद्धि। परन्तु 21 जन्म का नाम सुन ठण्डे मत पड़ जाना। ऐसे नहीं सोचना कि 21 जन्मों के लिये इतना इस समय पुरुषार्थ भी करें, फिर भी 21 जन्मों के बाद गिरना ही है तो सिद्धि क्या हुई? परन्तु ड्रामा के अन्दर आत्माओं की जितनी सर्वोत्तम सिद्धि मुकरर है वो तो मिलेगी ना! बाप आकरके हमें सम्पूर्ण स्टेज पर पहुँचा देता है, परन्तु हम बच्चे बाबा को भूल जाते हैं तो जरूर गिरेंगे, इसमें बाप का कोई दोष नहीं है। अब कमी हुई तो हम बच्चों की, सतयुग त्रेता का सारा सुख इस जन्म के पुरुषार्थ पर आधार रखता है तो क्यों न सम्पूर्ण पुरुषार्थ कर अपना सर्वोत्तम पार्ट बजायें! क्यों न पुरुषार्थ कर वह वर्सा लेवें। पुरुषार्थ मनुष्य सदा सुख के लिये ही करता है, सुख दु:ख से न्यारे होने के लिये कोई पुरुषार्थ नहीं करता, वो तो ड्रामा के अन्त में परमात्मा आए सभी आत्माओं को सजा दे, पवित्र बनाए पार्ट से मुक्त करेंगे। यह तो परमात्मा का कार्य है वो अपने मुकरर समय पर आपेही आकर बताता है। अब जब आत्माओं को फिर भी पार्ट में आना ही पड़ेगा तो क्यों न सर्वोत्तम पार्ट बजायें।

अच्छा – मीठे-मीठे बच्चों प्रति माँ का यादप्यार। ओम् शान्ति।

वरदान:- बाबा शब्द की स्मृति से कारण को निवारण में परिवर्तन करने वाले सदा अचल अडोल भव
कोई भी परिस्थिति जो भल हलचल वाली हो लेकिन बाबा कहा और अचल बनें। जब परिस्थितियों के चिंतन में चले जाते हो तो मुश्किल का अनुभव होता है। अगर कारण के बजाए निवारण में चले जाओ तो कारण ही निवारण बन जाए क्योंकि मास्टर सर्वशक्तिमान् ब्राह्मणों के आगे परिस्थितियां चींटी समान भी नहीं। सिर्फ क्या हुआ, क्यों हुआ यह सोचने के बजाए, जो हुआ उसमें कल्याण भरा हुआ है, सेवा समाई हुई है.. भल रूप सरकमस्टांश का हो लेकिन समाई सेवा है-इस रूप से देखेंगे तो सदा अचल अडोल रहेंगे।
स्लोगन:- एक बाप के प्रभाव में रहने वाले किसी भी आत्मा के प्रभाव में आ नहीं सकते।

 

TODAY MURLI 24 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 June 2019 :- Click Here

24/06/19
Madhuban
Mateshwari
Om Shanti
21/06/64

Sweet elevated versions of Mateshwari to be read in morning class.

Song: This is my little world…

 

Om shanti. The knowledge-full, unlimited Father speaks to souls. The original stage that souls had has now become something else. It cannot be said that souls are always in the same stage. Although souls are eternal, they change their stages. As time goes by, their stages change. In fact, souls are eternal and imperishable but souls receive the fruit, according to the actions they perform. So, it is the soul that is responsible and does everything. So, the Father is also now talking to souls. It is in everyone’s intellect that the Father of souls is the Supreme Father, the Supreme Soul.

Since we say, “Father” then we are surely His children. It isn’t that He is the Father and that we are also fathers. If it is said that souls are the Supreme Soul, it would then be said that souls are Supreme Fathers. However, in the relationship of Father and son, He is said to be the Father. If all of us are fathers, then who would call us father? Definitely, there are the two: Father and son. The relationship of Father is there when there is the son and it is when there is the son that there is the Father. So, he is said to be the Supreme Father, the Supreme Soul. Now, that Father sits here and explains to us: There is a difference in the stage that you have now and the stage that you had before. I have now come to finish that difference. The Father gives us understanding and explains that we now have to catch hold of the original stage that we had. He gives us knowledge and the power to grasp it. He says: Remember Me and you will receive power to perform elevated actions. Otherwise, your actions will not be elevated. Some say that they want to perform good actions, but they don’t know what happens, for their mind cannot focus on anything good. It goes in other directions because the soul does not have the power to perform good actions. Because our stage is tamopradhan, there is a greater influence of the tamo stage that suppresses us. This is why intellects quickly go in that direction or there are obstructions, which stop intellects from going in the rightdirection. So, the Father says: Now have yoga with Me and, on the basis of the understanding that I give you, continue to clear the burden of sins and bondages that come in front of you as obstructions on the path. Then, if you continue to perform elevated actions you will continue to receive the power to become satopradhan. On the basis of this, you will once again attain that stage which was originally yours.

Souls will then receive bodies accordingly and the world will become like that too. So, the Supreme Father, the Supreme Soul, is now creating such a world and that is why He is called the World Creator. However, it is not that the world doesn’t exist at all and that He sits and creates it, but He creates that type of world in this way. No one else can be called the One who creates the world. Christ came, Buddha came and they established their new religions, however, to change the world or to create a world is the work of the One who is the World Creator, the World Almighty Authority. So, you also have to understand that His duty is different from those of all souls. However, He, too, like other souls, comes and carries out His duty and performs His acts in this human world. Otherwise, each soul has his own acts. It cannot be said that all of these are the acts of God. Each soul has his own karmic accounts which continue. Whoever does something receives the reward of that and, in that, there are some good souls such as Christ, Buddha, souls of Islam, Gandhi – all the good ones who came, came and played their parts and then departed. In this way, you souls also have parts of many births. You shed one body and take another. However many births each one has, the soul plays the account of that part. A whole record is recorded in each soul and he plays that. This is the place where it is played. This is why it is called a play and also a drama. God also has to act in it once and this is why the praise of His act is most elevated. However, what is He elevated in? He comes and changes our world.

This is the field of action where each human soul plays his own part. God too has a part in it, but He doesn’t enter into birth and death like souls do. He doesn’t have a wrong account of actions like souls do. He says: I simply come to liberate you souls and this is why I am called the Liberator, the Bestower of Liberation and Salvation who liberates you from bondage.

He removes the bondage of Maya that is on souls and makes souls pure and says: My duty is to liberate souls from all their bondages and take them back, and so the eternal systems and laws of the world have to be understood. How does the population of the human world increase? Then, there is also the time when it decreases. It isn’t that when it increases, it just continues to increase; no. It also decreases. Everything in the world has a discipline. Our bodies too follow certain disciplines: first the body is that of a young child, then adolescent, then youthful and then old. It doesn’t become old quickly. As it gradually grows old, it becomes decayed. So, there is a system for everything to grow and then for it to finish. In this way, there is also a system for the generations of the world. There are the stages of life and there are also the stages of births, then there are also the stages of the generations. Similarly, there are also the stages of all the religions. The first religion is the one with the maximum strength, and then the strength of all the others that come gradually decreases. For the religions to be divided, for them to continue, all of this happens according to the system, and so these things have to be understood.

According to this, the Father also says: I too have a part in this. I too am a soul. I, God, am not anything else. I too am a soul, but My task is very great and elevated and this is why I am called God. Just as each of you is a soul, I am the same. Just as you are a human being and your child is also a human being and there is no difference between you in that respect, similarly, I too am a soul. There is no difference between souls, but there is a huge difference in their tasks and this is why it is said that My task is different from those of everyone else. I am not the one who establishes any limited religion. I am the Creator of the world, whereas all the others are creators of religions. Just as they carry out their duties at their own time, in the same way, I also come at My own time. My task is unlimited; My task is great and different from those of everyone else. This is why it is said: Your work is unique. He is also called the Almighty Authority. The most powerful task is to liberate souls from the bondages of Maya and to plant the sapling of the new world. This is why in English, He is called, “Heavenly God, the Father”. Christ is said to be the Father of Christianity, He cannot be called “Heavenly God, the Father. God is the One who establishes heaven. So, heaven is a worldheaven is not a religion. So, He is the One who establishes the world and there is one religion, one kingdom in that world. All the elements will have changed and this is why the Father is called Heavenly God, the Father.

Secondly, it is said: God is Truth. So, what is the truth? In what is there the truth? This, too is something to be understood. Some think that those who speak the truth are said to be GodGod is not anything else, but one just has to speak the truth. However, “God is Truth” means that God came and told us the truth about everything. “God is Truth” means that God, Himself, tells us the truth, that He has that truth and this is why He is said to be knowledge-full, the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss; God knows. So, it must surely be something worth knowing, must it not? So, what is it that He knows? It isn’t that when someone steals something, God knows. Although He knows everything, His praise is based on the fact that He knows how our world fell and how it can become elevated, and everything about this cycle. This is why it is said: God knows. So, God’s praise is different from that of human beings because His knowing is different from that of everyone else. The knowing of human beings is limited. It is said that human beings are limited whereas for God it is said that God is all-knowing or, in English, He is said to be knowledge-full, that is, He is the knower of everything, that is, He knows everything. So, only the One who is all-knowing can know the truth. Only the One who has the accurate knowledge of everything will give that to everyone. If He, Himself, knows but does not give that knowledge to anyone else, then, what is the benefit of that to us? Let Him know; but no! We have benefited from His knowing and this is why we sing praise of His qualifications; we chase after Him. When something happens, we say: O God, You now have to do this! Have mercy! Be kind! Remove our sorrow! Therefore, we ask Him for something. We have a relationship with Him, do we not? This is why we remember Him in that way, as though He has done us a favour. If He had never done anything for us, why would we beat our heads for Him? When someone helps at a time of difficulty, you feel in your heart: this one helped me a lot at the right time and protected me at the right time. So you feel love for that one in your heart. So, there is also such love for God, because He helped you at the right time. However, it is not that, when something good happens for someone, you can then say that God did it. This is what God does, that is all. However, His work is great. It is the work of the world, it is a matter of the world, but it isn’t that when someone receives money, God did it. We too perform good actions and so we receive the fruit of those actions. There is the account of good and bad actions and we continue to receive the fruit of those. However, the fruit of the actions that God came and taught us about is different. Temporary happiness can be experienced on the basis of our intellects, but we also experience permanent happiness from the knowledge we receive from Him. So, God’s work is different. This is why it is said: I come Myself and teach you the accurate knowledge of karma and this is referred to as karma yoga being elevated. There is no question of renouncing actions or the home and family. I simply give you the knowledge of how you can purify your actions. So, you have to make your actions pure; you do not have to renounce them. Actions are something eternal. This field of action is also eternal. Where there are human beings, there are also actions, but I come and teach you how you can make those actions elevated and, through this, the account of your actions remains neutral. Neutral action means that you do not accumulate anything bad in your account. Achcha.

To the sweetest children of BapDada and Ma, to the very good ones who remain cautious, love, remembrance and good morning. Achcha.

Blessing: May you have the eternal fortune of happiness from having constant zeal and enthusiasm, and from singing songs of happiness in your mind.
You children who have the fortune of happiness receive imperishable success by using eternal methods. “Wah, wah!” songs of happiness constantly emerge in your minds. Wah Baba! Wah fortune! Wah sweet family! Wah the beautiful time of the elevated confluence age! Each action is “Wah, wah!” and so you have the eternal fortune of happiness. The question “Why me?” can never enter your minds. Instead of “Why?” you say “Wah, wah!” and instead of “I”, you say “Baba, Baba!”
Slogan: Put the imperishable Government stamp on whatever thoughts you have and you will stay strong.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 June 2019

To Read Murli 23 June 2019 :- Click Here
24-06-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 21-06-64 मधुबन

(प्रात:क्लास में सुनाने के लिए मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य)

गीत:- यह मेरा छोटा-सा संसार है… 

 

ओम् शान्ति। नॉलेजफुल, बेहद का बाप आत्माओं से बात करते हैं। आत्माओं की जो ओरीज्नल स्टेज थी अभी वह कुछ और हो गई है। ऐसे नहीं कहेंगे कि आत्मा सदा से एक ही स्टेज में है। आत्मा भले अनादि है परन्तु उसकी स्टेज बदलती है, जैसे-जैसे समय बीतता जाता है तो उनकी स्थिति बदलती जाती है, वैसे आत्मा अनादि अविनाशी है, लेकिन आत्मा जैसा कर्म करती है वैसा फल पाती है। तो करने वाली रेसपान्सिबुल आत्मा है। तो अभी बाप भी उनसे बात करते हैं, यह तो सबकी बुद्धि में है कि आत्मा का पिता परमपिता परमात्मा है।

जब पिता कहते हैं तो जरूर हम उसके पुत्र ठहरे, ऐसे नहीं वो पिता है तो हम भी पिता है। अगर आत्मा सो परमात्मा कहें तो आत्मा को ही परमपिता भी कहें। परन्तु पिता और पुत्र के रिलेशन में पिता कहने में आता है। अगर हम सब भी पितायें है तो फिर पिता कहेगा कौन! जरूर पुत्र और पिता दो चीज़ हैं। पिता कहने का सम्बन्ध पुत्र से बनता है और पुत्र के सम्बन्ध में ही पिता का सम्बन्ध आता है। तो उनको कहा ही जाता है परम पिता परम आत्मा। अभी वह बाप बैठ करके समझाते हैं कि अभी तुम्हारी जो स्थिति है और जो पहले स्थिति थी, उसमें फर्क है। अभी मैं आया हूँ उसी फर्क को मिटाने के लिए। बाप समझ दे करके समझाते हैं कि तुम्हारी जो ओरीज्नल स्टेज थी, अभी उसी को पकड़ लो। कैसे पकड़ो, उसका ज्ञान भी दे रहे हैं तो बल भी दे रहे हैं। कहते हैं तुम मुझे याद करो तो श्रेष्ठ कर्म करने का बल आयेगा, नहीं तो तुम्हारे कर्म श्रेष्ठ नहीं रहेंगे। कई कहते हैं कि हम चाहते हैं कि अच्छा काम करें लेकिन पता नहीं फिर क्या होता है जो हमारा मन अच्छे तरफ लगता नहीं है, दूसरी तरफ लग जाता है क्योंकि आत्मा में अच्छे कर्म करने का बल नहीं है। हमारी स्थिति तमोप्रधान होने के कारण तमो का प्रभाव अभी जोर से है, जो हमको दबाता है इसलिए बुद्धि उसी तरफ जल्दी चली जाती है और अच्छे तरफ बुद्धि जाने में रूकावट आती है। तो बाप कहते हैं अभी मेरे से योग लगाओ और जो मैं समझ देता हूँ, उसी आधार से अपने पापों का जो बोझा है, बन्धन है, जो रूकावटें बन सामने आती हैं उससे अपना रास्ता साफ करते चलो। फिर श्रेष्ठ कर्म करते रहेंगे तो तुम्हारे में सतोप्रधानता की वह पॉवर आती जायेगी, उसी आधार से तुम फिर से उस स्थिति को प्राप्त करेंगे जो तुम्हारी असुल थी।

फिर जैसी आत्मा वैसा शरीर भी मिलेगा और संसार भी वैसा ही होगा। तो ऐसा संसार अभी परमपिता परमात्मा बनाते हैं इसलिए उसको कहा जाता है वर्ल्ड क्रियेटर, परन्तु ऐसे नहीं कि दुनिया कभी है ही नहीं जो बैठ करके बनाते हैं, लेकिन ऐसी और इस तरीके से दुनिया बनाते हैं। दूसरे किसी को भी दुनिया बनाने वाला नहीं कहेंगे, क्राइस्ट आया, बुद्ध आया तो उसने अपना नया धर्म स्थापन किया लेकिन दुनिया को बदलना और दुनिया बनाना, यह काम उसका है जो वर्ल्ड क्रियेटर, वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी है। तो यह भी समझना है कि उनका कर्तव्य सभी आत्माओं से भिन्न है, लेकिन वह भी अपना कर्तव्य वा एक्ट अन्य आत्माओं की तरह इस मनुष्य सृष्टि में ही आ करके करते हैं। बाकी तो हरेक आत्मा का एक्ट अपना चलता है, ऐसे नहीं कहेंगे कि यह सभी एक्ट परमात्मा का ही चलता है, यह हरेक आत्मा का अपना-अपना कर्म का खाता चलता है, जो करते हैं सो पाते हैं, उसमें फिर कई अच्छी आत्मायें भी हैं, जैसे क्राइस्ट, बुद्ध आये, इस्लामी आये, गांधी आया, जो जो अच्छे अच्छे आये वे सब अपना-अपना पार्ट प्ले करके गये। इसी तरह से आप आत्माओं का भी बहुत जन्मों का पार्ट है। एक शरीर छोड़ा दूसरा लिया, हर एक का जितने भी जन्मों का हिसाब होगा, आत्मा वह पार्ट बजाती है। आत्मा में सारा रिकॉर्ड भरा हुआ है, जो वो प्ले करती है। यह है प्ले करने का स्थान, इसलिये इसको नाटक भी कहते हैं, ड्रामा भी कहते हैं। इसमें एक बार परमात्मा का भी एक्ट है, इसलिये उनके एक्ट की महिमा सबसे ऊंच है। लेकिन ऊंचा किसमें हैं? वह आ करके हमारी दुनिया को बदलते हैं।

यह है ही कर्म का खेत, जहाँ हरेक मनुष्य आत्मा अपना-अपना पार्ट प्ले करती है। इसमें परमात्मा का भी पार्ट है लेकिन वह आत्माओं के सदृश्य जन्म-मरण में नहीं आते हैं। आत्माओं के सदृश्य उनके कर्म का खाता उल्टा नहीं बनता है। वह कहते हैं मैं तो सिर्फ तुम आत्माओं को लिबरेट करने आता हूँ इसीलिये मुझे लिब्रेटर, बन्धन से छुड़ाने वाला गति सद्गति दाता कहते हैं।

आत्मा पर माया का जो बन्धन चढ़ा है, उसे उतारकर प्युअर बनाते हैं और कहते हैं कि मेरा काम है आत्माओं को सर्व बन्धनों से छुड़ा करके वापस ले जाना, तो सृष्टि के जो अनादि नियम और कायदे हैं उन्हें भी समझना है, फिर इस मनुष्य सृष्टि की वृद्धि किस तरह से होती है, फिर वह टाइम भी आता है जब यह कम होती है। ऐसे नहीं कि बढ़ती है तो बढ़ती ही जाती है, नहीं। कम भी होती है। तो सृष्टि में हर चीज़ का नियम है। अपने शरीर का भी नियम है, पहले बाल, फिर किशोर, फिर युवा, फिर वृद्ध। तो वृद्ध भी जल्दी नहीं, वृद्ध होते-होते जड़जड़ीभूत हो जाते हैं तो हर बात का बढ़ना और उसका अन्त होना, यह भी नियम है। इसी तरह से सृष्टि की जनरेशन्स का भी नियम है। एक जीवन की भी स्टेजेज़ हैं तो फिर जन्मों की भी स्टेजेज़ हैं, फिर जनरेशन्स भी जो चली उसकी भी स्टेजेज़ हैं, इसी तरह सभी धर्मों की भी स्टेजेज़ हैं। पहला जो धर्म है वह सबसे ताकत वाला है, पीछे आहिस्ते-आहिस्ते जो आते हैं, उनकी ताकत कम होती जाती है। तो धर्मों का बंटना, धर्मों का चलना, हरेक बात नियमों से चलती है, इन सब बातों को भी समझना है।

इसी हिसाब से बाप भी कहते हैं मेरा भी इसमें पार्ट है। मैं भी एक सोल हूँ, मैं गॉड कोई दूसरी चीज़ नहीं हूँ। मैं भी सोल ही हूँ परन्तु मेरा काम बहुत बड़ा और ऊंचा है इसलिये मुझे गॉड कहते हैं। जैसी तुम आत्मा हो मैं भी वैसा ही हूँ। जैसे आपका बच्चा है वो भी तो मनुष्य है, आप भी तो मनुष्य हो, उसमें तो कोई फर्क नहीं है ना। तो मैं भी आत्मा ही हूँ, आत्मा, आत्मा में कोई फर्क नहीं है लेकिन कर्तव्य में बहुत भारी फर्क है इसीलिये कहते हैं मेरा जो कर्तव्य है वह सबसे भिन्न है। मैं कोई हद के एक धर्म का स्थापक नहीं हूँ, मैं तो दुनिया का क्रियेटर हूँ, वो हो गये धर्म के क्रियेटर। जैसे वो आत्मायें अपना काम अपने समय पर करती हैं, वैसे मैं भी अपने समय पर आता हूँ। मेरा कर्तव्य विशाल है, मेरा कर्तव्य महान है और सबसे निराला है इसलिये कहते हैं तेरे काम निराले। उनको सर्वशक्तिवान भी कहते हैं, सबसे शक्तिशाली काम है आत्माओं को माया के बंधनों से छुड़ाना और नई दुनिया का सैपलिंग लगाना इसलिए उनको अंग्रेजी में कहते हैं हेविनली गॉड फादर। जैसे क्राइस्ट को कहेंगे क्रिश्चियनिटी का फादर, उनको हेविनली गॉड फादर नहीं कहेंगे। हेविन का स्थापक परमात्मा है। तो हेविन वर्ल्ड हो गई ना, हेविन कोई एक धर्म नहीं है। तो वह वर्ल्ड का स्थापक हो गया और उस वर्ल्ड में एक धर्म, एक राज्य होगा, तत्व आदि सब चेन्ज हो जायेंगे इसलिये बाप को कहते हैं हेविनली गॉड फादर।

दूसरा, गॉड इज़ ट्रूथ कहते हैं, तो ट्रूथ क्या चीज़ है, किसमें ट्रूथ? यह भी समझने की बात है। कई समझते हैं कि जो सच बोलता है वही गॉड है। गॉड कोई और चीज़ नहीं है, बस सच बोलना चाहिए। परन्तु नहीं, गॉड इज ट्रूथ का मतलब ही है कि गॉड ने ही आ करके सभी बातों की सच्चाई बताई है, गॉड इज ट्रूथ माना गॉड ही ट्रूथ बतलाता है, उसमें ही सच्चाई है, तब तो उनको नॉलेजफुल कहते हैं। ओशन ऑफ नॉलेज, ओशन ऑफ ब्लिस, गॉड नोज़, (ईश्वर जानता है)… तो जरूर विशेष कुछ जानने की बात है ना! तो वह कौनसी जानकारी है? यह नहीं कि इसने चोरी की, गॉड नोज़। भले वह जानता सबकुछ है परन्तु उसकी महिमा जो है ना, वह इसी पर है कि हमारी दुनिया जो नीचे गिरी है वह ऊंची कैसे चढ़े, इस चक्र की बातों को वह जानता है इसलिये कहते हैं गॉड नोज़। तो परमात्मा की महिमा उस तरीके से आती है जो मनुष्य से भिन्न है क्योंकि उनका जानना सबसे भिन्न है। मनुष्य का जानना हद है, कहते भी हैं मनुष्य अल्पज्ञ है और परमात्मा के लिए कहते हैं वह सर्वज्ञ है, जिसको अंग्रेजी में नॉलेजफुल कहते हैं यानि सर्व का ज्ञाता अथवा जानने वाला है। तो जो सर्वज्ञ है वही ट्रूथ को जान सकता है, यथार्थ बातों की नॉलेज जिसके पास होगी, जरूर वह सबको देगा ना। अगर खुद जाने, दूसरों को न दे तो उससे हमें क्या फायदा! जानने दो। परन्तु नहीं। उसके जानकारी से हमें कोई फायदा मिला है, तब तो हम उसकी क्वालिफिकेशन्स गाते हैं। उसके पीछे पड़ते हैं। कभी कुछ भी होता है तो कहते हैं हे भगवान! अब तू यह कर! खैर कर, रहम कर, मेरा दु:ख दूर कर, तो हम उससे मांगते हैं ना। उससे कुछ सम्बन्ध है ना इसलिए उस तरीके से याद करते हैं, जैसे उसने हमारे पर कोई एहसान किया है। अगर कभी किया ही नहीं होता तो हम क्यों उसके लिये माथाकुटी करते। जब कोई मुसीबत के समय मदद करता है तो दिल में आता है कि इसने बड़ी मुसीबत के समय मुझे हेल्प की थी। समय पर मेरी रक्षा की थी, तो उसके प्रति दिल में प्रेम रहता है। तो परमात्मा के प्रति भी ऐसा ही प्रेम आता है कि उसने हमारी समय पर मदद की है। परन्तु ऐसे नहीं कि कभी कोई मनुष्य का अच्छा हो गया तो कहें यह भगवान ने किया… बस भगवान ऐसा ही करता है। लेकिन उसका बड़ा काम है, वर्ल्ड का काम है, दुनिया के सम्बन्ध की बात है। बाकी ऐसे नहीं कि किसी को थोड़ा पैसा मिल गया, यह भगवान ने किया, यह तो हम भी अच्छे कर्म करते हैं, तो उस कर्म का फल मिलता है। अच्छे बुरे कर्मों का हिसाब चलता है, उसका भी हम पाते रहते हैं लेकिन परमात्मा ने आ करके जो कर्म सिखाया उसका जो फल है, वह अलग है। अल्पकाल का सुख तो बुद्धि के आधार पर भी मिलता है। परन्तु उसने जो नॉलेज दी उससे हम सदा सुख पाते हैं। तो परमात्मा का काम भिन्न हो गया ना इसलिए कहते हैं कि मैं ही आ करके कर्म की जो यथार्थ नॉलेज है वो सिखाता हूँ, जिसको कहा है कर्मयोग श्रेष्ठ है, इसमें कर्म को, घर गृहस्थ को छोड़ने की बात नहीं है। सिर्फ तुम अपने कर्मों को पवित्र कैसे बनाओ, उसकी नॉलेज मैं बतलाता हूँ। तो कर्म को पवित्र बनाना है, कर्म छोड़ना नहीं है। कर्म तो अनादि चीज़ है। यह कर्मक्षेत्र भी अनादि है। मनुष्य है तो कर्म भी है, परन्तु उस कर्म को तुम श्रेष्ठ कैसे बनाओ वह आ करके सिखाता हूँ जिससे फिर तुम्हारे कर्म का खाता अकर्म रहता है। अकर्म का मतलब है कोई बुरा खाता नहीं बनता है। अच्छा।

ऐसे बापदादा और माँ के मीठे-मीठे बहुत अच्छे, खबरदार रहने वाले बच्चों के प्रति यादप्यार और गुडमा-र्निंग। अच्छा।

वरदान:- सदा उमंग-उत्साह में रह मन से खुशी के गीत गाने वाले अविनाशी खुशनसीब भव 
आप खुशनसीब बच्चे अविनाशी विधि से अविनाशी सिद्धियां प्राप्त करते हो। आपके मन से सदा वाह-वाह की खुशी के गीत बजते रहते हैं। वाह बाबा! वाह तकदीर! वाह मीठा परिवार! वाह श्रेष्ठ संगम का सुहावना समय! हर कर्म वाह-वाह है इसलिए आप अविनाशी खुशनसीब हो। आपके मन में कभी व्हाई, आई (क्यों, मैं) नहीं आ सकता। व्हाई के बजाए वाह-वाह और आई के बजाए बाबा-बाबा शब्द ही आता है।
स्लोगन:- जो संकल्प करते हो उसे अविनाशी गवर्मेन्ट की स्टैम्प लगा दो तो अटल रहेंगे।

TODAY MURLI 24 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 June 2018 :- Click Here

24/06/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
24/04/65

The third eye of knowledge (wisdom) is the basis of happiness and peace in life.

Song: People of today are in darkness…

Om shanti. In the song you heard that we people are in darkness. However, today, the world thinks that we are very enlightened (in a lot of light). There has been so much enlightenment! We can go up to the moon, we can travel to the sky and the stars. What can people not do today? Seeing all of these things, people think that there has been a lot of enlightenment. However, in the song it then says: We are in darkness. So, in what sense is there darkness since they are researching so much and having the courage to go to the moon and the stars? While there is all of this, they do not have the things you need in life; life that should be full of happiness and peace is not so. People are not advanced in this aspect, are they? Instead of them experiencing happiness and peace in life, sorrow and peacelessness are increasing even more: this shows that people are having less and less of what they need. There is darkness in this sense. Now, just see how, while sitting at home, they are able to see things somewhere else, they are able to talk to people in other places – they have all the things such as television, radio, etc. but they still do not have what we call happiness and peace in life. There is darkness in this sense and this is why it is said that the people of today are in darkness. Today, people are creating so many medicines and finding cures for illnesses and diseases but, even then, the number of sick people is continually increasing, and so sorrow and peacelessness continues to increase for them. This is why they call out: You have to come now! Who are they calling out to? They are not calling out to a person for this, they are calling out to God. People do not have anything to give. When we say ‘people’, sages, holy men and great souls are all included in that. Those who you think are going to take you across are themselves human beings, and all human beings are in darkness and this is why we are not able to find what we want. Then, we call out to God and also sing: You are the Stick for the Blind. However, in what way are we blind? It is not that we do not have eyes with which to see. Although we have eyes that enable us to see all the material possessions and everything else, we do not have that eye which is called the eye of knowledge. We do not have the eye or the wisdom to see how we can bring complete happiness and peace in our lives. However, that eye of knowledge is not going to stick out here (on the forehead). Because the third eye of the deities has been depicted in the pictures of the deities, some people think that perhaps there were human beings with three eyes. However, such human beings with three eyes cannot exist. The ornaments that have been depicted in the pictures have to be understood. Human beings can never have three eyes, whether they are deities or anyone else. It is human beings that are deities and human beings that are devils. That is the qualification of human beings. However, it isn’t that the form of a human being can change such that someone would have four arms or someone would have three eyes; or that if someone is devilish, there will be something different in his form. When a person is disqualified, he is called a devil and when he is filled with all virtues, 16 celestial degrees complete, completely viceless in his qualifications, then he or she is a deity. However, there cannot be any difference in the make-up (form) of the body: there can definitely be a difference in their qualifications, whether you call it pure and impure, full of virtues or defects, or you call it being elevated or corrupt. All these terms apply to the behaviour.

There is a meaning behind the four arms – two arms of a woman and two arms of a man. So when man and woman are pure, they have the double crown of being the four-armed image shown as a symbol of the kingdom. When such a kingdom existed, all men and women were happy in that kingdom, so they have portrayed that with the four-armed image and they have shown Ravan with 10 heads. This too is symbolic; there cannot be any person with 10 heads. This is a symbol of the vices. When there is an impure household, there are five vices of a woman and five vices of a man, and so altogether, they have shown the 10 heads. When men and women are impure, the world is so unhappy and when men and women are pure, the world is happy. When people are pure, they are naturally healthy ; there can be a difference in their make-up, features or natural beauty. It isn’t that they would have three eyes or 10 heads.

The Father says: Look, this is the eye of knowledge. It is only with this eye of knowledge that you can attain happiness and peace for all time. Here, all human beings have got tired searching. The more they search, the more their sorrow and peacelessness increase. Look, they are searching for happiness and yet they still keep making things that cause even more sorrow. Just look at the bombs etc. that they have invented. If this very science were to be used in a better way, they could experience happiness from lots of things. However, they have divorced intellects at the time of destruction and this is why all the work done by those intellects is wrong. This is the time for destruction and this is why the intellects do everything wrong. They only think about the destruction of the world and this is why it is said, “A divorced intellect at the time of destruction”. What is the intellect divorced from? From God. So no one now has love for God. Everyone has love for Maya.

Some then think that whatever they see with their eyes is Maya, that even these bodies are Maya, this world is Maya, this wealth and prosperity is Maya. However, all these things are not Maya. Even the deities had wealth and prosperity. Even the deities had bodies and they too existed in the world. So was that Maya? No. The five vices are said to be Maya. The vices are Maya and Maya causes sorrow. Wealth and prosperity are not things that cause sorrow. Prosperity is a means for happiness, but who made that prosperity impure? The five vices (Maya) did that. Because of the vices in the form of Maya, everything has become a reason for sorrow. Now, there is sorrow from wealth, sorrow from the body; sorrow is received from everything because Maya now exists in everything. This is why the Father says: Now, get rid of Maya and you will then receive happiness for all time from your body, from your wealth and from the world, just as the deities did.

To be saved from Maya does not mean that you leave of the body, or that you do not come back into this world. There are some people who think that the world is Maya, or they say that the world is an illusion, but the world is not an illusion, the world is eternal; it has been made false. It is because of the vices that people have become unhappy. This world now has to be made pure. This world was pure and deities used to reside in that pure world. They too were human beings of this world. The world of the deities was not up above. When we human beings were deities, that world was called swarg, heaven. We human beings were residents of heaven, that is, that was the time of heaven and our generations continued in heaven. We have to understand all of these things and finish Maya, that is, we have to conquer Maya, because even the wealth earned from actions based on vice is filled with sorrow. Because bodies are created through vice, they are diseased. There continues to be untimely death through which there is sorrow. Otherwise, our bodies were not diseased. There was never untimely death because they were made with the power of purity (being viceless). Now, they are made out of vice and this is why there is sorrow in that. Now, in order to come away from that sorrow and for this world to be made happy, people call out to that One (the Supreme Soul). So, look, the Father is now giving us the third eye of knowledge (understanding) which we have to imbibe in our intellects. We Brahmins have the third eye of knowledge, the deities do not have it. Previously, we were shudras; shudras means those who indulge in vice. Now, from being vicious, we have stepped onto the path of purity. So we have become Brahmins. It is only Brahmins who have the third eye, and when we are deities, we experience the reward. The deities do not need the eye of knowledge and this is why all the ornaments they have been portrayed with – the shell, discus, mace and lotus – belong to the Brahmins, not to the deities.

This is the shell of knowledge, but on the path of devotion, they have taken all these things to be physical. The mace means we have conquered the five vices. The discus is of the four ages. At first we were deities and then we came down. The Father has now come to elevate us once again. We have now completed our cycle. So, this is the discus of self-realisation, that is, the self has had a vision of itself. Some may ask how the world becomes old. Oh, this is a law of nature. Everything has to become old with time. When something becomes old, then the new is created. All of these things have to be understood. Every object and every situation has its own natural law and this is why we have to make effort and elevate ourselves; we have to become new. You cannot say: Since the Father exists, why did He let us fall? He did not let us fall, but if we hadn’t fallen, how could the Father come to elevate us? It is because we have fallen that He has come. He is remembered as the One who purifies the impure. If there were no impure beings, how could we say that He is the One who purifies everyone? We have to become impure and then we have to become pure and then we have to become impure from being pure. This is a cycle and therefore this cycle has to be understood and we have to make ourselves pure from impure. We have to become worthy of worship, for it is only then that we are praised. Praise is sung of those who become that and the One who makes you become that. So, there have to be the two – the one who becomes that and the One who makes you like that. It is not that the One who makes others that is the same one who becomes that. “The soul is the Supreme Soul and the Supreme Soul is the soul”. It is not like that, is it? The ones who become that and the One who makes you become like that are different and this is why you must not be confused by these things. We have to become that, we have to elevate ourselves, we have to make effort. The Father comes and gives us the understanding of what real effort is. What is the effort for elevated attainment? He comes and teaches us that. For all this time, no one taught us how to make that effort, because all those who teach are themselves caught up in the cycle. The One who elevates us has come now and He shows us the effort we have to make to become elevated. To the extent that we imbibe this, accordingly we receive a reward. We have all of this knowledge in our intellects. For this, we have to pay attention to what we have to do and what effort we have to make. The cycle has to continue in its own time.

The Father has now become present to carry out such an elevated task and we have to benefit ourselves fully from that. Christ, Buddha or whoever came and carried out their tasks; however those tasks are different, they are of our descending period. Now, this is our ascending period and so we also have to understand time. This is the time when all souls are taken back, when they are taken up above. Those religious founders who come in the copper age and the iron age have to come down. So, they have to come down, they have to become impure from pure and this is why it cannot be said for them that they are the ones who make impure ones pure. No, it is only the One who comes and purifies the impure, that is, He takes all souls into liberation and salvation and so it is the responsibility of just the One. No matter how great a soul may be, when that soul first comes down, he is pure and then he has to descend, because the cycle turns in that way and so he has to come down. According to each one’s time, everyone has to go through the cycle. So, it is now the time to ascend and only the One is the Instrument to take us up high. Therefore, we now have to claim that fortune from the Father. Achcha.

Now, you are earning a huge income here. From one, you are earning a hundred-fold or a thousand-fold. When you do something with enthusiasm, you receive the reward of that enthusiasm. Those who do something under compulsion, those who do something with great difficulty, because they are distressed by it or they are doing it for show, they receive a reward accordingly. Many people think that the world should know about the things they have done. When some people donate, they do it to show everyone, so that everyone knows about it. Half the power of that donation is lost and this is why incognito donation has a lot of significance. There is power in that. You receive a greater reward of that, whereas by making a show of it, its value is reduced. So, there is a way of doing it. There is an account of doing everything in a satoguni, rajoguni or tamoguni way. How can we make our actions elevated and how should we do everything so that we make our fortune elevated? So, you need to know the way to do that too. If you are moving along in a good way, then your fortune is definitely becoming elevated too. Achcha.

Love, remembrance and good morning from BapDada and Maa to the sweetest, very good and worthy children.

Blessing: May you be a master world benefactor who has an unlimited attitude, the same as the Father.
“An unlimited attitude” means to have a benevolent attitude for all souls. This is what it means to be a master world benefactor. It is not that there should only be benefit of yourself or the limited souls for whom you are an instrument, but that you have an attitude that is benevolent for all. Those who move along while content with their progress, with their attainment and their contentment are benefactors for themselves. However, those who have an unlimited attitude and who remain busy with unlimited service are said to be master world benefactors, the same as the Father.
Slogan: Those who maintain equanimous in praise and defamation, in respect and insult, in benefit and loss are said to be yogi souls.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 June 2018

To Read Murli 23 June 2018 :- Click Here
24-06-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 24-04-65 मधुबन

“ज्ञान का तीसरा नेत्र (विजडम) ही लाइफ में सुख और शान्ति का आधार है”

गीत: आज अन्धेरे में हम इंसान…

ओम् शान्ति। गीत में सुना हम इन्सान अन्धेरे में हैं। लेकिन आज तो दुनिया समझती है कि हम बहुत रोशनी में हैं, कितनी रोशनी हुई है! चाँद तक जा सकते हैं, आकाश, सितारों में घूम सकते हैं। आज मनुष्य क्या नहीं कर सकता है! तो इन सभी बातों को देखकर मनुष्य समझते हैं बहुत रोशनी आ गई है। परन्तु फिर गीत में कहते हैं हम अंधेरे में हैं। तो वह अंधेरा किस बात का है? जबकि इतनी खोज कर रहे हैं, चांद सितारों तक भी जाने की हिम्मत दिखा रहे हैं! यह सब होते भी जो चीज़ लाइफ में चाहिए, जो लाइफ सुख और शान्ति से सम्पन्न होनी चाहिए वह नहीं है। उसमें तो मनुष्य ऊंचा नहीं गया है ना। लाइफ में सुख शान्ति के बजाए और ही दु:ख अशान्ति बढ़ती जा रही है तो इससे सिद्ध होता है कि जो मनुष्य को चाहिए उसमें नीचे होते जाते हैं, उसका अन्धकार है। अभी देखो घर बैठे इधर देखते हैं, उधर बात करते हैं, टेलीविज़न, रेडियो, यह सभी चीज़े हैं परन्तु फिर भी जो लाइफ का सुख और शान्ति कहें वो तो चीज़ नहीं रही है ना। उसका ही अंधकार है इसलिये कहते हैं आज इन्सान अन्धेरे में है। आज देखो रोगों के लिये कितने इलाज, कितनी दवाईयां आदि निकालते रहते हैं लेकिन रोगी तो फिर भी बढ़ते जा रहे हैं तो हमारे लिये दु:ख अशान्ति बढ़ता ही जा रहा है, इसलिए बुलाते हैं अभी तू आ। किसको बुलाते हैं? इसके लिए कोई इन्सान को नहीं बुलाते हैं, परमात्मा को ही पुकारते हैं। इन्सान के पास तो देने के लिए कुछ है भी नहीं। जब कहते हैं हम सब इन्सान हैं तो उसमें साधू सन्त महात्मा आदि सब आ गये। जिन्हों के लिए समझते हैं वो हमको पार करेंगे, अब वह भी तो इन्सान हैं और सब इन्सान अंधकार में हैं इसलिए जो चीज़ हमें चाहिए वह नहीं मिल पा रही है। फिर परमात्मा को पुकारते हैं और गाते भी हैं कि अन्धे की लाठी तू है। लेकिन अन्धे किसमें हैं? ऐसे तो नहीं कि देखने के लिए आंखें नहीं हैं। इन पदार्थों को और सभी बातों को देखने के लिये यह ऑखे भले हैं लेकिन वह नेत्र नहीं है जिसको ज्ञान नेत्र कहा जाता है। तो यही नेत्र अथवा विजडम नहीं है कि लाइफ में पूर्ण सुख और शान्ति कैसे आवे? लेकिन वो ज्ञान नेत्र कोई यहाँ निकल नहीं आयेगा, यह जो चित्रकारों ने देवताओं के चित्रों में तीसरा नेत्र दिखलाया है इससे कई समझते हैं शायद तीन ऑख वाले कभी मनुष्य थे, परन्तु ऐसे तीन ऑख वाले मनुष्य तो होते नहीं हैं। यह सभी जो चित्रों में अलंकार हैं इनका भी अर्थ समझना है। कभी तीन ऑखें मनुष्य को होती नहीं हैं, भले देवता हो, कोई भी हो। मनुष्य ही देवता है और मनुष्य ही असुर है। वह है मनुष्य की क्वालिफिकेशन। बाकी ऐसे नहीं है कि वह कोई मनुष्य के शरीर की बनावट को बदल देता है जिससे किसको चार भुजायें आ जायेंगी या तीन ऑखें आ जायेंगी! या कोई असुर है तो उसमें कुछ और बनावट का फ़र्क पड़ जायेगा। जब मनुष्य डिसक्वालिफाईड है तो उसको कहा जायेगा असुर और क्वालिफिकेशन्स में जब सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी है तो वह देवता है। बाकी शरीर की बनावट में फ़र्क नहीं पड़ता, उसके क्वालिफिकेशन्स में फ़र्क जरूर पड़ता है, जिसको पवित्र अपवित्र कहो या गुण अवगुण सम्पन्न कहो या भ्रष्टाचार, श्रेष्ठाचार कहो। यह सभी अक्षर आचरण के ऊपर हैं।

चार भुजा का भी अर्थ है – दो भुजा नारी की, दो भुजा नर की। तो नर नारी जब पवित्र हैं तो चतुर्भुज का डबल क्राउन, किंगडम का सिम्बल दिखाते हैं। ऐसी राजाई जब थी तो उस राजाई में सभी नर नारी सुखी थे तो उसे चतुर्भुज के रूप में दिखलाया है और रावण को 10 शीश वाला दिखाते हैं, उसका भी अर्थ है। 10 शीश वाला कोई आदमी नहीं होता। यह भी एक विकारों का सिम्बल है, जब अपवित्र प्रवृत्ति है तो 5 विकार स्त्री के और 5 विकार पुरुष के मिला करके 10 शीश दिखा दिये हैं। तो यह नर नारी जब अपवित्र हैं तो संसार ऐसा दु:खी है और जब नर नारी पवित्र हैं तो संसार सुखी है। जब मनुष्य पवित्र हैं तो नेचुरल हेल्दी हैं और उसकी बनावट, फीचर्स, नैचुरल ब्युटी आदि इसका फ़र्क हो सकता है। बाकी ऐसे नहीं कि उसमें कोई 3 ऑखे या 10 सिर… की बनावट होगी।

बाप कहते हैं देखो, यह ज्ञान का नेत्र है। इस नॉलेज के नेत्र से ही सदा सुख शान्ति प्राप्त कर सकते हो। यहाँ तो सब इन्सान खोजते-खोजते थक गये हैं, जितना खोज कर रहे हैं उतना और ही दु:ख-अशान्ति बढ़ता जा रहा है। देखो, खोज तो सुख के लिये करते हैं लेकिन फिर भी उनसे वही चीज़ें बनती जा रही हैं जो और ही दु:ख देने वाली हैं। अब यह बॉम्ब्स आदि क्या-क्या चीज़ें निकाली हैं। नहीं तो यही साईस अगर अच्छी तरह से उपयोग (काम) में लगाई जाए तो बहुत चीज़ों से सुख मिल सकता है। परन्तु विनाश काले विपरीत बुद्धि है ना, इसलिए उस बुद्धि से काम ही उल्टा हो रहा है। अभी यह समय ही विनाश का है इसलिए बुद्धि काम ही उल्टा करती है, दुनिया के नाश का ही सोचती है इसलिए कहते हैं विनाश काले विपरीत बुद्धि। विपरीत बुद्धि किससे? परमात्मा से। तो अभी किसी की भी प्रीत परमात्मा से नहीं है। माया से सबकी प्रीत हो गई है।

कई फिर समझते हैं कि हम इन आंखों से जो भी देखते हैं यह माया है, यह शरीर भी माया है, यह संसार भी माया है, यह धन सम्पत्ति भी माया है परन्तु माया इसको नहीं कहेंगे। धन सम्पत्ति तो देवताओं के पास भी थी। शरीर तो देवताओं का भी था और संसार में तो देवतायें भी थे, फिर क्या वो माया थी क्या? नहीं। माया कहा जाता है 5 विकारों को। विकार ही माया हैं और यह माया ही दु:ख देती है, बाकी धन-सम्पत्ति कोई दु:ख देने की चीज़ नहीं है। सम्पत्ति तो सुख का साधन है, परन्तु उस सम्पत्ति को भी इम्प्युअर, अपवित्र किसने बनाया है? 5 विकारों (माया) ने। तो माया रूपी विकारों के कारण हर चीज़ दु:ख का कारण बन गई है। अभी धन से भी दु:ख, शरीर से भी दु:ख, हर चीज़ से अभी दु:ख प्राप्त हो रहा है क्योंकि हर चीज़ में अभी माया प्रवेश हो गई है, इसलिये बाप कहते हैं अभी इस माया को निकालो तो फिर तुमको इसी शरीर से, सम्पत्ति से और संसार से सदा सुख मिलेगा, जैसे देवताओं को था।

तो माया से बचना माना ऐसे नहीं कि शरीर से ही निकल जाना है या हम संसार में ही नहीं आयें, ऐसे भी कई समझते हैं कि यह संसार ही माया है या कह देते हैं जगत मिथ्या है लेकिन जगत मिथ्या नहीं, जगत तो अनादि है, इसको मिथ्या बनाया गया है। विकारों के कारण मनुष्य दु:खी हुए हैं। अब इस संसार को पवित्र बनाना है। यह संसार पवित्र था, उस पवित्र संसार में देवता रहते थे, वह भी इसी संसार के मनुष्य थे। देवताओं की दुनिया कोई ऊपर थोड़ेही है। हम मनुष्य ही जब देवता थे तब उस संसार को स्वर्ग अथवा हेवन कहते थे। हम मनुष्य ही स्वर्गवासी थे यानि वह टाइम स्वर्ग का था। और हमारी जनरेशन स्वर्ग में चलती थी, तो इन सभी बातों को समझकर अभी माया को मिटाना है यानी विकारों को जीतना है क्योंकि यह धन भी अभी विकारी कर्म के हिसाब से होने के कारण उससे भी दु:ख होता है, शरीर भी विकारी खाते का होने के कारण उसमें रोग, अकाले मृत्यु होती रहती है जिससे दु:ख मिलता है। नहीं तो हमारे शरीर में कभी रोग नहीं था, कभी अकाले मृत्यु नहीं होता था क्योंकि पवित्रता (निर्विकारिता) के बल से बना हुआ था, अभी विकारों से बना हुआ है इसलिये इसमें दु:ख है। अभी इन दु:खों से निकालने और संसार को सुखी बनाने के लिए उसको (परमात्मा को) बुलाते हैं। तो अभी देखो बाप हमें ज्ञान का नेत्र (समझ) दे रहे हैं, उसे बुद्धि में धारण करना है। यह ज्ञान का तीसरा नेत्र हम ब्राह्मणों के पास है, देवताओं के पास नहीं है। पहले हम शुद्र थे, शुद्र माना विकारी, अभी विकारी से पवित्रता के मार्ग पर अपना पाँव रखा है। तो हम ब्राह्मण हो गये। ब्राह्मणों को ही तीसरी ऑख है और देवतायें हैं तो फिर प्रालब्ध है। देवताओं को फिर ज्ञान नेत्र की जरूरत नहीं है इसलिए जो भी अलंकार हैं शंख, पा, गदा, पदम आदि यह सब हम ब्राह्मणों के हैं, देवताओं के नहीं।

यह शंख भी ज्ञान का है, परन्तु भक्ति मार्ग में उन्होंने वह चीज़ें स्थूल रख दी हैं। गदा माना 5 विकारों के ऊपर हमने विजय पाई है। चक्कर है यह चार युगों का। हम पहले सो देवता थे फिर कैसे नीचे आये, अभी फिर बाप आया है ऊंचा उठाने के लिये। तो यह सारा चक्कर अभी हमने अपना पूरा किया है। तो यही है स्वदर्शन चक्र यानि स्व को अभी दर्शन अर्थात् साक्षात्कार हुआ है। कोई कहे यह पुराना कैसे हुआ? अरे! यह नियम है। समय पर पुराना होना ही है। जब पुराना हो तब नया बनाया जाए। तो यह सारी चीज़ें समझने की हैं। हर चीज़ का, हर बात का कैसा-कैसा नियम है इसलिये अभी हमको पुरुषार्थ करके ऊंचा उठना है, नया बनना है। बाकी ऐसे नहीं कह सकते कि जब बाप था तो हमको क्यों गिरने दिया? उसने गिरने थोड़ेही दिया, लेकिन अगर हम गिरे नहीं तो बाप फिर चढ़ाने कैसे आवे, गिरे हैं तभी तो वह आया है। उसका गायन भी है पतित को पावन करने वाला, अगर पतित ही न हों तो पावन करने वाला उसको कहें भी कैसे? तो पतित होना है फिर पावन होना है, फिर पावन से पतित होना है, यह सारा चक्कर है इसलिए इस चक्कर को भी समझना है और खुद को पतित से पावन बनाना है, पूज्यनीय बनना है तब ही हमारी भी महिमा है। तो बनने और बनाने वाले की महिमा गाई जाती है। इसमें बनने वाला और बनाने वाला दो चाहिए ना। ऐसे थोड़ेही बनने वाला भी खुद, बनाने वाला भी खुद। आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो आत्मा.. ऐसे तो नहीं है ना। बनने वाले अलग और बनाने वाला अलग है इसलिए इन बातों में कभी मूंझना नहीं है, हमको बनना है, ऊंचा उठना है, पुरुषार्थ करना है। बाप आ करके हमको यथार्थ पुरुषार्थ क्या होता है, उसकी समझ देते हैं। ऊंच प्राप्ति का पुरुषार्थ कौन सा है, वह अभी सिखाते हैं, इतना टाइम हमको किसी ने वह पुरुषार्थ नहीं सिखलाया क्योंकि सिखलाने वाले खुद ही सब चक्कर में हैं ना। ऊंचा उठाने वाला भी अभी आया है और आ करके ऊंच उठने का पुरुषार्थ अभी बताते हैं। उसको हम जितना धारण करते हैं उतनी प्रालब्ध पाते हैं। तो यह सभी नॉलेज बुद्धि में है, उसके लिए हमको क्या मेहनत और क्या पुरुषार्थ करना है, उसका ध्यान रखना है। बाकी चक्र को तो अपने टाइम पर चलना ही है।

तो बाप जो अभी ऐसा ऊंच कार्य करने के लिये उपस्थित हुआ है, उससे पूरा-पूरा लाभ लेना है। बाकी क्राइस्ट, बुद्ध जिन्होंने भी आ करके कोई कार्य किया, तो वो कार्य दूसरा है, वह हमारे उतरती कला के समय का है। अभी यह चढ़ती कला के समय का है तो समय को भी समझना है। यह समय है सब आत्माओं को वापस ले जाने का, ऊंचा ले जाने का। वह (धर्म स्थापक) तो आते ही द्वापरकाल से हैं और कलियुग को नीचे होना ही है। तो उन्हों को नीचे ही आना है, पावन से पतित ही बनना है इसलिए उनके लिये नहीं कहा जा सकता है कि वह पतितों को पावन करने वाले हैं। नहीं। यह एक ही है जो आ करके पतितों को पावन बनाते हैं अथवा सर्व आत्माओं को गति सद्गति में ले जाते हैं इसलिए एक की ही रेसपान्सिब्लिटी हो गई ना। कोई कितनी भी बड़ी (महान) आत्मा है वो पहले पवित्र आती है फिर उनको नीचे ही जाना है क्योंकि उनके चक्र का ऐसा टर्न है इसलिए नीचे ही आना है। अपने नियम अनुसार सबको अपना वो चक्र पार करना होता है। तो अभी टाइम है चढ़ने का और चढ़ाने वाला एक ही निमित्त है तो हमको अभी वह सौभाग्य बाप से लेना है। अच्छा।

अभी यहाँ आपकी बहुत इनकम हो रही है, एक से सौ गुणा, हजार गुणा अपनी कमाई जमा कर रहे हो। जो उत्साह से करता है तो उस उत्साह का भी मिलता है। जो लाचारी से करता है, तंग होकर मुश्किल से करता है या कोई दिखावे के लिए करता है तो उसे उसी हिसाब से मिलता है। कईयों के अन्दर रहता है दुनिया देखे हमने यह किया, वह किया… कई दान भी करते हैं तो दिखाऊ दान करते हैं कि सबको पता चले, तो उस दान की ताकत आधा तो निकल जाती है इसलिए गुप्त का बहुत महत्व है, उसमें ताकत बनती है, उसका हिसाब ज्यादा मिलता है और शो करने से उसका हिसाब कम पड़ जाता है। तो करने का भी ढंग है। सतोगुणी, रजोगुणी, तमोगुणी करने में भी हिसाब है। तो कैसे हम अपने कर्मो को श्रेष्ठ बनायें और किस तरह से करें जिसमें हमारा भाग्य ऊंचा बनें तो वो बनाने का भी ढंग चाहिए। अगर ऐसे अच्छे ढंग से चल रहे हैं तो जरूर ऊंची तकदीर बनती जा रही है। अच्छा !

बापदादा और माँ का मीठे-मीठे बहुत अच्छे और सपूत बच्चों प्रति यादप्यार और गुडमार्निंग।

वरदान:- बाप समान बेहद की वृत्ति रखने वाले मास्टर विश्व कल्याणकारी भव 
बेहद की वृत्ति अर्थात् सर्व आत्माओं के प्रति कल्याण की वृत्ति रखना – यही मास्टर विश्वकल्याणकारी बनना है। सिर्फ अपने वा अपने हद के निमित्त बनी हुई आत्माओं के कल्याण अर्थ नहीं लेकिन सर्व के कल्याण की वृत्ति हो। जो अपनी उन्नति में, अपनी प्राप्ति में, अपने प्रति सन्तुष्टता में राज़ी होकर चलने वाले हैं, वह स्व-कल्याणी हैं। लेकिन जो बेहद की वृत्ति रख बेहद सेवा में बिजी रहते हैं उन्हें कहेंगे बाप समान मास्टर विश्व कल्याणकारी।
स्लोगन:- निंदा-स्तुति, मान-अपमान, हानि-लाभ में समान रहने वाले ही योगी तू आत्मा हैं।
Font Resize