daily murli 24 august

TODAY MURLI 24 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 August 2020

24/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, constantly maintain the happiness that you have completed the cycle of 84 births and that you are now to go back home. Only a few more days of the suffering of karma now remain.
Question: Which aspect should you children, who are to become conquerors of sinful acts, pay a great deal of attention to in order to remain safe from performing sinful acts?
Answer: Pay attention that you never become body conscious. Body consciousness is the root of all sinful acts. Therefore, repeatedly become soul conscious and remember the Father. You definitely receive the fruit of both good and bad acts. At the end, your conscience would bite you. Therefore, in order to lighten the burden of your sins of this birth, tell the Father everything very honestly.

Om shanti. The greatest destination is that of remembrance. Many are only interested in listening to knowledge. It is very easy to understand this knowledge. You just have to understand the cycle of 84 births and become spinners of the discus of self-realisation; there is nothing more to it than that. You children understand that you are all spinners of the discus of self-realisation. It is not that you cut anyone’s throat with the discus, as they have shown Krishna doing. Lakshmi and Narayan are the dual-form of Vishnu. Do they have a discus of self-realisation? So, why do they show Krishna with a discus? There is a magazine in which there are many such pictures of Krishna. The Father comes to teach you Raj Yoga; He doesn’t cut the throats of devils with a discus. A devil is someone with a devilish nature but, otherwise, human beings are human beings. It isn’t that He kills everyone with a discus of self-realisation. Look at all the different pictures they have created on the path of devotion. There is the difference of day and night. You children have to know the whole world cycle and the full drama because all of you are actors. Those limited actors know their dramas. This drama is unlimited. This cannot be understood in detail. Those dramas last for two hours. The details of each one’s part are known. Here, it is a matter of knowing 84 births. The Father has explained: I enter the chariot of Brahma. There also has to be the story of the 84 births of Brahma. These things cannot enter the intellects of human beings. They don’t even understand whether there are 8.4 million births or 84 births. The Father says: I tell you the story of your 84 births. If it were 8.4 million births, it would take many years to tell. You know everything in a second. This is the story of 84 births. How did we go around the cycle of 84 births? If it were 8.4 million births, it would not be possible to understand them in a second. There aren’t 8.4 million births. You children should be happy that you have now completed the cycle of 84 births and that you are now to return home. Only a few more days of the suffering of karma remain. You have been shown the way to burn your sins away and how you can reach your karmateet stage. He explained: Give Baba in writing all the sins you have committed in this birth and your burden will be lightened. None of you can write about the sins of your many births. Sinful acts continue to be performed. Ever since the kingdom of Ravan began, acts have been sinful. In the golden age acts are neutral. God speaks: I explain to you the philosophy of actions, bad actions and neutral actions. The era of the conquerors of sin begins with Lakshmi and Narayan. This is very clear in the picture of the ladder. These aspects are not mentioned in the scriptures. You children understand the secrets of the sun and moon dynasty kingdoms and how you are those same ones. They make many pictures of the variety-form image but they don’t understand the meaning of it. No one but the Father can explain it. There would have to be someone above Brahma who taught him, would there not? If a guru had taught him, there would not have been just one disciple. The Father says: Children, you have to become impure from pure and pure from impure. This too is fixed in the drama. You have been around this cycle many times. You will continue to pass around it. You are all-round actors. No one else plays a part from the beginning to the end. The Father only explains to you. You also know that each of those of other religions come at such-and-such a time, whereas you have all-round parts. You would not say that the Christians exist in the golden age. They come in the middle of the copper age. This knowledge is only in the intellects of you children and you are able to explain it to anyone. No one else knows the beginning, the middle and the end of the world. They don’t know the Creator, so how could they know about creation? Baba has told you to print these righteous things and drop them everywhere from an aeroplane. Sit and write about these points and topics. Some children say that they have no service to do. Baba says: There is a great deal of service to do. You can sit here in solitude and do this work. You have to awaken all the big organisations and Gita Pathshalas, etc. You have to give everyone the message: This is the most elevated confluence age. Sensible ones will understand very quickly. Establishment of the new world and destruction of the old world must surely take place at the confluence age. In the golden age, human beings are elevated. Here, human beings are impure and have devilish natures. Baba has also explained that many people go to bathe at the Kumbha mela. Why do they go to bathe there? Because they want to become pure. Go to wherever people go to bathe and do service there. Explain to people that that water is not the Purifier. You also have the pictures. Go to the Gita Pathshalas and distribute these leaflets. Some children ask for service to do. Sit and write that the God of the Gita is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, and not Shri Krishna. Write the praise of his biography and also write Shiv Baba’s biography. Then, they can judge for themselves. Also, write points on who the Purifier is. Then show the difference between Shiva and Shankar andexplained how Shiva is separate from Shankar. Baba also explained: The cycle is 5000 years. Human beings take 84 births and not 8.4 million births. Write these main aspects in short so that leaflets can be dropped from an aeroplane and you can also use them to explain. It is clear in the picture of the cycle that such-and-such a religion is established at such-and-such a time. You should also have a picture of this cycle. Therefore, you can have calendars printed with 12 main pictures in which all the knowledge can be given and then service can take place easily. These pictures are absolutely essential. Sit and write what pictures you have to create and what points you have to write on them. You are transforming this old world in an incognito way. You are the unknown warriors; no one knows you. Baba is incognito and the knowledge is incognito. No scriptures etc. are created from it. Other founders of religions have their Bible etc. printed, which people have continued to read. Each one has his own scripture printed. Yours is printed on the path of devotion. It is not printed at the present time, because all the scriptures etc. are now to be destroyed. At present, you must simply have remembrance in your intellects. The Father also has knowledge in His intellect. He doesn’t study scriptures etc. He is knowledge-full. People think that “The Knowledge-full One” means the One who knows what is in the heart of each one, that God sees everything and that this is why He gives the fruit of actions. The Father says: This too is fixed in the drama. Whatever sins you commit in the drama, there continues to be punishment for those. You definitely have to receive the return of good and bad acts. There is nothing in writing about any of this. Human beings understand that they definitely receive the fruit of their acts in the next birth. In their final moments, their consciences bite them a great deal for the various sins they have committed; they remember everything. As are your acts, so the birth you receive. You are now becoming conquerors of sin. Therefore, no such sins should be committed. The greatest vice is to become body conscious. Baba repeatedly tells you to become soul conscious and to remember the Father. You have to remain pure. The greatest sin is to use the sword of lust. It is this that causes sorrow from its beginning through the middle to the end. This is why sannyasis say that happiness is like the droppings of a crow. There is no mention of sorrow there. Here, there is sorrow and only sorrow. This is why sannyasis have disinterest. However, they go away into a forest. Their disinterest is limited, whereas your disinterest is unlimited. This is a dirty world. Everyone says: Baba, come and remove our sorrow and grant us happiness. Only the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Only you children understand that it was the kingdom of deities in the new world. There was no type of sorrow there. When someone leaves his body, although people say that he has become a resident of heaven, they don’t believe themselves to be in hell or that they can go to heaven when they die. Did the one who died go to heaven or did he come back here to hell? They don’t understand anything. You children can explain to everyone the secret of the three fathers. Everyone can understand about two fathers: the lokik and the parlokik. The third one, the alokik Prajapita Brahma, exists at the confluence age. Brahmins too are needed. Those brahmins are not a creation born through the mouth of Brahma. They do understand that Brahma existed, which is why they say, “Salutations to the brahmins who are to become deities.” They neither know to whom they say this nor to which brahmins they refer. You are the Brahmins who belong to the most elevated confluence age; they belong to the iron age. This is the most elevated confluence age when you change from ordinary humans into deities. The deity religion is now being established. You children must imbibe all of these points and then do service. At the time of worshipping and offering food to a departed spirit, they invite a brahmin priest. You can chitchat with them and tell them: “We can make you into true Brahmins.” It is now the special month of feeding departed spirits. This has to be done with tact. Otherwise, it will be said that after people go to the Brahma Kumaris they stop doing everything. You mustn’t do anything to upset anyone. You can give this knowledge with tact. Those brahmins will definitely come, for only then will you be able to give them this knowledge. You can do a lot of service of worldly brahmins in this month. Tell them: “You brahmins are the children of Prajapita Brahma. Tell us who established the Brahmin religion.” You can benefit them while sitting at home. People who go on pilgrimage to Amarnath will not be able to understand as much from the written material. Sit there and explain to them: We are going to tell you the true story of Amarnath. Only the One is called Amarnath. Amarnath means the One who establishes the land of immortality. That land is the golden age. Serve them in this way. You have to go there on foot. Go there and explain to good and eminent people. You can also give this knowledge to sannyasis. You are benefactors for the whole world. Your intellects should have the intoxication that you are bringing benefit to the whole world by following shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. When you have time, sit in solitude and churn good points of knowledge. Then write about them. Think of ways of giving everyone the message and how to benefit everyone.
  2. In order to remain safe from performing sinful acts, be soul conscious and remember the Father. You must no longer perform sinful acts. Tell BapDada honestly about the sins you have committed in this birth.
Blessing: May you constantly be happy and victorious and experience contentment by becoming full and perfect.
Those who are filled with all treasures are constantly content. Contentment means fullness. The Father is full He is therefore praised as the Ocean. In the same way, you children also become master oceans, that is, you become full and constantly continue to dance in happiness. Nothing but happiness can be inside you. Because you yourselves are full, you will not be troubled by anyone. You will experience any type of confusion or obstacle to be a game, and any problem will becomes a means of entertainment. Because your intellects have faith, you will be constantly happy and victorious.
Slogan: Do not be afraid of delicate situations, learn a lesson from them and make yourselves strong.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सदा इसी खुशी में रहो कि हमने 84 का चक्र पूरा किया, अब जाते हैं अपने घर, बाकी थोड़े दिन यह कर्मभोग है”
प्रश्नः- विकर्माजीत बनने वाले बच्चों को विकर्मों से बचने के लिए किस बात पर बहुत ध्यान देना है?
उत्तर:- जो सर्व विकर्मों की जड़ देह-अभिमान है, उस देह-अभिमान में कभी न आयें, यह ध्यान रखना है। इसके लिए बार-बार देही-अभिमानी बन बाप को याद करना है। अच्छे और बुरे का फल जरूर मिलता है, अन्त में विवेक खाता है। लेकिन इस जन्म के पापों के बोझ को हल्का करने के लिए बाप को सच-सच सुनाना है।

ओम् शान्ति। बड़े ते बड़ी मंजिल है याद की। बहुतों को सिर्फ सुनने का शौक रहता है। ज्ञान को समझना तो बहुत सहज है। 84 के चक्र को समझना है, स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। जास्ती कुछ नहीं है। तुम बच्चे समझते हो हम सब स्वदर्शन चक्रधारी हैं। स्वदर्शन चक्र से कोई का गला नहीं काटते हैं। जैसे कृष्ण के लिए दिखाया है। अब यह लक्ष्मी-नारायण विष्णु के दो रूप हैं। क्या उनको स्वदर्शन चक्र है? फिर कृष्ण को चक्र क्यों दिखाते हैं? एक मैगज़ीन निकालते हैं, जिसमें कृष्ण के ऐसे बहुत चित्र दिखाते हैं। बाप तो आकर तुम्हें राजयोग सिखाते हैं, न कि चक्र से असुरों का घात करते हैं। असुर उनको कहा जाता, जिनका आसुरी स्वभाव है। बाकी मनुष्य तो मनुष्य हैं ना। ऐसे नहीं स्वदर्शन चक्र से बैठ सबको मारते हैं। भक्ति मार्ग में क्या-क्या चित्र बैठ बनाये हैं। रात-दिन का फ़र्क है। तुम बच्चों को इस सृष्टि चक्र और सारे ड्रामा को जानना है क्योंकि सब एक्टर्स हैं। वह हद के एक्टर्स तो ड्रामा को जानते हैं। यह है बेहद का ड्रामा। इसमें डिटेल में नहीं समझ सकेंगे। वह तो 2 घण्टे का ड्रामा होता है। डीटेल में पार्ट जानते हैं। यह तो 84 जन्मों को जानना होता है।

बाप ने समझाया है – मैं ब्रह्मा के रथ में प्रवेश करता हूँ। ब्रह्मा के भी 84 जन्मों की कहानी चाहिए। मनुष्यों की बुद्धि में यह बातें आ न सकें। यह भी नहीं समझते कि 84 लाख जन्म हैं या 84 जन्म हैं? बाप कहते हैं तुम्हारे 84 जन्मों की कहानी सुनाता हूँ। 84 लाख जन्म हों तो कितने वर्ष सुनाने में लग जायें। तुम तो सेकण्ड में जान जाते हो – यह 84 जन्मों की कहानी है। हमने 84 का चक्र कैसे लगाया है, 84 लाख हो तो सेकण्ड में थोड़ेही समझ सकते। 84 लाख जन्म हैं ही नहीं। तुम बच्चों को भी खुशी होनी चाहिए। हमारा 84 का चक्र पूरा हुआ। अब हम घर जाते हैं। बाकी थोड़े दिन यह कर्मभोग है। विकर्म भस्म हो कर्मातीत अवस्था कैसे हो जाए, इसके लिए यह युक्ति बताई है। बाकी समझाते हैं इस जन्म में जो भी विकर्म किये हुए हैं वह लिखकर दो तो बोझ हल्का हो जाए। जन्म-जन्मान्तर के विकर्म तो कोई लिख न सके। विकर्म तो होते आये हैं। जबसे रावण राज्य शुरू हुआ है तो कर्म विकर्म हो पड़ते हैं। सतयुग में कर्म अकर्म होते हैं। भगवानुवाच – तुमको कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को समझाता हूँ। विकर्माजीत का संवत लक्ष्मी-नारायण से शुरू होता है। सीढ़ी में बड़ा क्लीयर है। शास्त्रों में कोई यह बातें नहीं हैं। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी का राज़ भी तुम बच्चों ने समझा है कि हम ही थे। विराट रूप का चित्र भी बहुत बनाते हैं परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं जानते। बाप बिगर कोई समझा नहीं सकते। इस ब्रह्मा के ऊपर भी कोई है ना, जिसने सिखाया होगा। अगर कोई गुरू ने सिखाया होता तो उस गुरू का सिर्फ एक शिष्य तो नहीं हो सकता। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम्हें पतित से पावन, पावन से पतित बनना ही है। यह भी ड्रामा में नूँध है। अनेक बार यह चक्र पास किया है। पास करते ही रहेंगे। तुम हो आलराउन्ड पार्टधारी। आदि से अन्त तक पार्ट और कोई का है नहीं। तुमको ही बाप समझाते हैं। फिर तुम यह भी समझते हो कि दूसरे धर्म वाले फलाने-फलाने समय पर आते हैं। तुम्हारा तो आलराउन्ड पार्ट है। क्रिश्चियन के लिए तो नहीं कहेंगे कि सतयुग में थे। वह तो द्वापर के भी बीच में आते हैं। यह नॉलेज तुम बच्चों की ही बुद्धि में है। किसको समझा भी सकते हो। दूसरा कोई सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते। रचयिता को ही नहीं जानते तो रचना को कैसे जानेंगे। बाबा ने समझाया है जो राइटियस बातें हैं वह छपाकर एरोप्लेन से सब जगह गिरानी है। वह प्वाइंट्स अथवा टॉपिक्स बैठ लिखनी चाहिए। बच्चे कहते हैं काम नहीं है। बाबा कहते हैं यह सर्विस तो बहुत है। यहाँ एकान्त में बैठ यह काम करो। जो भी बड़ी-बड़ी संस्थायें हैं, गीता पाठशालायें आदि हैं, उन सबको जगाना है। सबको सन्देश देना है। यह पुरुषोत्तम संगमयुग है। जो समझदार होंगे वह झट समझेंगे, जरूर संगमयुग पर ही नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश होता है। सतयुग में पुरुषोत्तम मनुष्य होते हैं। यहाँ है आसुरी स्वभाव वाले पतित मनुष्य। यह भी बाबा ने समझाया है, कुम्भ का मेला आदि जो लगता है। बहुत मनुष्य जाते हैं स्नान करने। क्यों स्नान करने जाते हैं? पावन होना चाहते हैं। तो जहाँ-जहाँ मनुष्य स्नान करने जाते हैं वहाँ जाकर सर्विस करनी चाहिए। मनुष्यों को समझाना चाहिए, यह पानी कोई पतित-पावनी नहीं है। तुम्हारे पास चित्र भी हैं। गीता पाठशालाओं में जाकर यह पर्चे बांटने चाहिए। बच्चे सर्विस मांगते हैं। यह बैठकर लिखो – गीता का भगवान परमपिता परमात्मा शिव है, न कि श्रीकृष्ण। फिर उनकी बायोग्राफी की महिमा लिखो। शिवबाबा की बायोग्राफी लिखो। फिर आपेही वह जज करेंगे। यह प्वाइंट्स भी लिखनी है कि पतित-पावन कौन? फिर शिव और शंकर का भेद भी दिखाना है। शिव अलग है, शंकर अलग है। यह भी बाबा ने समझाया है – कल्प 5 हज़ार वर्ष का है। मनुष्य 84 जन्म लेते हैं, न कि 84 लाख। यह मुख्य-मुख्य बातें शॉर्ट में लिखनी चाहिए। जो एरोप्लेन से भी गिरा सकते हैं, समझा भी सकते हैं। यह जैसे गोला है, इसमें क्लीयर है फलाने-फलाने धर्म फलाने-फलाने समय पर स्थापन होते हैं। तो यह गोला भी होना चाहिए इसलिए मुख्य 12 चित्रों के कैलेन्डर्स भी छपवा सकते हो जिसमें सारा ज्ञान आ जाए और सर्विस सहज हो सके। यह चित्र बिल्कुल ज़रूरी है। कौन-से चित्र बनाने हैं, क्या-क्या प्वाइंट लिखनी चाहिए। वह बैठ लिखो।

तुम गुप्तवेष में इस पुरानी दुनिया का परिवर्तन कर रहे हो। अननोन वारियर्स हो। तुमको कोई नहीं जानते। बाबा भी गुप्त, नॉलेज भी गुप्त। इनका कोई शास्त्र आदि बनता नहीं, और धर्म स्थापक के बाइबिल आदि छपते हैं जो पढ़ते आते हैं। हर एक के छपते हैं। तुम्हारा फिर भक्ति मार्ग में छपता है। अभी नहीं छपना है क्योंकि अभी तो यह शास्त्र आदि सब खत्म हो जाने हैं। अभी तुमको बुद्धि में सिर्फ याद करना है। बाप के पास भी बुद्धि में ज्ञान है। कोई शास्त्र आदि थोड़ेही पढ़ते। वह तो नॉलेजफुल है। नॉलेजफुल का अर्थ फिर मनुष्य समझते हैं सबके दिलों को जानने वाला है। भगवान देखते हैं तब तो कर्मों का फल देते हैं। बाप कहते हैं यह ड्रामा में नूँध है। ड्रामा में जो विकर्म करते हैं तो उनकी सज़ा होती जाती है। अच्छे वा बुरे कर्मों का फल मिलता है। उसकी लिखत तो कोई है नहीं। मनुष्य समझ सकते हैं ज़रूर कर्मों का फल दूसरे जन्म में मिलता है। अन्त घड़ी विवेक फिर बहुत खाता है। हमने यह-यह पाप किये हैं। सब याद आता है। जैसा कर्म वैसा जन्म मिलेगा। अभी तुम विकर्माजीत बनते हो तो कोई भी ऐसा विकर्म नहीं करना चाहिए। बड़े ते बड़ा विकर्म है देह-अभिमानी बनना। बाबा बार-बार कहते हैं देही-अभिमानी बन बाप को याद करो, पवित्र तो रहना ही है। सबसे बड़ा पाप है काम कटारी चलाना। यही आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है इसलिए संन्यासी भी कहते यह काग विष्टा समान सुख है। वहाँ दु:ख का नाम नहीं होता। यहाँ दु:ख ही दु:ख है, इसलिए संन्यासियों को वैराग्य आता है। परन्तु वह जंगल में चले जाते हैं। उन्हों का है हद का वैराग्य, तुम्हारा है बेहद का वैराग्य। यह दुनिया ही छी-छी है। सब कहते हैं बाबा आकर हमारे दु:ख हरकर सुख दो। बाप ही दु:ख हर्ता सुख कर्ता है। तुम बच्चे ही समझते हो कि नई दुनिया में इन देवताओं का राज्य था। वहाँ किसी भी प्रकार का दु:ख नहीं था। जब कोई शरीर छोड़ता है तो मनुष्य कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। परन्तु यह थोड़ेही समझते कि हम नर्क में हैं। हम जब मरें तब स्वर्ग में जायें। परन्तु वह भी स्वर्ग में गया वा यहाँ नर्क में आया? कुछ भी समझते नहीं। तुम बच्चे 3 बाप का राज़ भी सबको समझा सकते हो। दो बाप तो सब समझते हैं लौकिक और पारलौकिक और यह अलौकिक प्रजापिता ब्रह्मा फिर है यहाँ संगमयुग पर। ब्राह्मण भी चाहिए ना। वह ब्राह्मण कोई ब्रह्मा के मुख वंशावली थोड़ेही हैं। जानते हैं ब्रह्मा था इसलिए ब्राह्मण देवी-देवता नम: कहते हैं। यह नहीं जानते कि किसको कहते हैं, कौन से ब्राह्मण? तुम हो पुरुषोत्तम संगमयुगी ब्राह्मण। वह हैं कलियुगी। यह है पुरुषोत्तम संगमयुग, जब तुम मनुष्य से देवता बनते हो। देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। तो बच्चों को सब प्वाइंट्स धारण करनी है और फिर सर्विस करनी है। पूजा करने वा श्राद्ध खाने पर ब्राह्मण लोग आते हैं। उनसे भी तुम चिटचैट कर सकते हो। तुमको सच्चा ब्राह्मण बना सकते हैं। अभी भादों का मास आता है, सभी पित्रों को खिलाते हैं। वह भी युक्ति से करना चाहिए, नहीं तो कहेंगे कि ब्रह्माकुमारियों के पास जाकर सब कुछ छोड़ दिया है। ऐसा कुछ नहीं करना है, जिसमें नाराज हों। युक्ति से तुम ज्ञान दे सकते हो। ज़रूर ब्राह्मण लोग आयेंगे, तब तो ज्ञान देंगे ना। इस मास में तुम ब्राह्मणों की बहुत सर्विस कर सकते हो। तुम ब्राह्मण तो प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद हो। बताओ ब्राह्मण धर्म किसने स्थापन किया? तुम उन्हों का भी कल्याण कर सकते हो घर बैठे। जैसे अमरनाथ की यात्रा पर जाते हैं तो वे सिर्फ लिखत से इतना नहीं समझेंगे। वहाँ बैठ समझाना चाहिए। हम तुमको सच्ची अमरनाथ की कथा सुनायें। अमरनाथ तो एक को ही कहा जाता है। अमरनाथ अर्थात् जो अमरपुरी स्थापन करे। वह है सतयुग। ऐसे सर्विस करनी पड़े। वहाँ पैदल जाना पड़ता है। जो अच्छे-अच्छे बड़े-बड़े आदमी हों उनको जाकर समझाना चाहिए। संन्यासियों को भी तुम ज्ञान दे सकते हो। तुम सारी सृष्टि के कल्याणकारी हो। श्रीमत पर हम विश्व का कल्याण कर रहे हैं – बुद्धि में यह नशा रहना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जब एकान्त वा फुर्सत मिलती है तो ज्ञान की अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स पर विचार सागर मंथन कर लिखना है। सबको सन्देश पहुँचाने वा सबका कल्याण करने की युक्ति रचनी है।

2) विकर्मो से बचने के लिए देही-अभिमानी बन बाप को याद करना है। अभी कोई भी विकर्म नहीं करना है, इस जन्म के किये हुए विकर्म बापदादा को सच-सच सुनाने हैं।

वरदान:- सम्पन्नता द्वारा सन्तुष्टता का अनुभव करने वाले सदा हर्षित, विजयी भव
जो सर्व खजानों से सम्पन्न है वही सदा सन्तुष्ट है। सन्तुष्टता अर्थात् सम्पन्नता। जैसे बाप सम्पन्न है इसलिए महिमा में सागर शब्द कहते हैं, ऐसे आप बच्चे भी मास्टर सागर अर्थात् सम्पन्न बनो तो सदा खुशी में नाचते रहेंगे। अन्दर खुशी के सिवाए और कुछ आ नहीं सकता। स्वयं सम्पन्न होने के कारण किसी से भी तंग नहीं होंगे। किसी भी प्रकार की उलझन या विघ्न एक खेल अनुभव होगा, समस्या मनोरंजन का साधन बन जायेगी। निश्चयबुद्धि होने के कारण सदा हर्षित और विजयी होंगे।
स्लोगन:- नाज़ुक परिस्थितियों से घबराओ नहीं, उनसे पाठ पढ़कर स्वयं को परिपक्व बनाओ।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

दादी जानकी जी ने दी सबको जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई | Janmashtami Special | Godlywood Studio |

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 August 2019

To Read Murli 23 August 2019:- Click Here
24-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप, टीचर और सतगुरू यह तीन अक्षर याद करो तो अनेक शिफ्तें (विशेषतायें) आ जायेंगी”
प्रश्नः- किन बच्चों के हर कदम में पद्मों की कमाई जमा होती रहती है?
उत्तर:- जो अपना हर कदम सर्विस में बढ़ाते रहते हैं, वही पद्मों की कमाई जमा करते हैं। अगर बाबा की सर्विस में कदम नहीं उठायेंगे तो पद्म कैसे पायेंगे। सर्विस ही कदम में पद्म देती है, इसी से पद्मापद्मपति बनते हो।
प्रश्नः- किस राज़ को जानने के कारण तुम बच्चे सभी के कल्याणकारी बनते हो?
उत्तर:- बाबा ने हम बच्चों को यह राज़ समझाया है कि सभी की यह एक ही हट्टी है, यहाँ सबको आना ही है। यह बहुत गुह्य राज़ है। इस राज़ को जानने वाले बच्चे ही सबके कल्याणकारी बनते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप के रूहानी बच्चे यह तो हर एक जानते होंगे कि बाबा हमारा बाप भी है, टीचर भी है और सतगुरू भी है। बच्चे जानते हैं, जानते हुए भी घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। यहाँ जो बैठे हैं, वह जानते तो होंगे ना परन्तु भूल जाते हैं। दुनिया वाले तो बिल्कुल नहीं जानते। बाप कहते हैं सिर्फ यह तीन अक्षर भी याद रहे तो बहुत सर्विस कर सकते हैं। प्रदर्शनी अथवा म्युजियम में तुम्हारे पास बहुत आते हैं, घर में भी मित्र-सम्बन्धी आदि बहुत आते हैं। कोई भी आये तो समझाना चाहिए कि जिसको भगवान कहा जाता है वह बाबा भी है, टीचर भी है और सतगुरू भी है। यह याद हो तो भी ठीक, और कोई की याद न आये। और कोई को तो ऐसे कह न सकें। तुम बच्चे जानते हो हमारा बाबा बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। कितना सहज है। परन्तु कोई-कोई की तो ऐसी पत्थरबुद्धि है जो यह 3 अक्षर भी बुद्धि में धारण नहीं कर सकते, भूल जाते हैं। बाबा हमको मनुष्य से देवता बनाते हैं क्योंकि बेहद का बाप है ना। बेहद का बाप है तो जरूर बेहद का वर्सा ही देंगे। बेहद का वर्सा है देवताओं के पास। इतना सिर्फ याद करें तो घर में भी बहुत सर्विस कर सकते हैं। परन्तु यह भी भूल जाने के कारण किसको बता नहीं सकते। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं क्योंकि सारे कल्प के भूले हुए हैं। अब बाप बैठ समझाते हैं। वास्तव में यह ज्ञान बहुत सिम्पल है, बाकी याद की यात्रा से सम्पूर्ण बनना, इसमें मेहनत है। बाबा हमारा बाप भी है, शिक्षा भी देते हैं, वर्सा भी देते हैं, पवित्र भी बनाते हैं क्योंकि पतित-पावन बाप है, सिर्फ कहते हैं कि सबको यही कहो कि मुझे याद करो। बाबा की सर्विस में ज़रा भी कदम नहीं उठा तो वह फिर पद्म कैसे पायेंगे! पद्मपति तो सर्विस से ही बन सकते हैं। सर्विस ही कदम में पद्म ले आती है। सर्विस के लिए बच्चे कहाँ-कहाँ से भागते रहते हैं। कितने कदम उठाये जाते हैं। पद्म तो उन्हों को मिलेगा ना। यह भी बुद्धि कहती है पहले शूद्र को ब्राह्मण बनाना पड़े। ब्राह्मण ही नहीं बनायेंगे तो क्या बनेंगे! सर्विस तो चाहिए ना। बच्चों को सर्विस का समाचार भी इसलिए सुनाया जाता है कि टैम्पटेशन हो। सर्विस से ही पद्म मिले हैं। सिर्फ एक बात ही सुनाओ जो दुनिया में और कोई नहीं जानते। बेहद का बाप, बाप है। परन्तु बाप का कोई को पता नहीं है। सिर्फ ऐसे ही गॉड फादर कहते रहते हैं। वह टीचर है – यह तो कोई की बुद्धि में नहीं होगा। स्टूडेन्ट की बुद्धि में हमेशा टीचर याद रहता है, जो पूरी रीति नहीं पढ़ते हैं उनको अनपढ़ा कहा जाता है। बाबा कहते हैं हर्जा नहीं है। तुम कुछ भी न पढ़े हुए यह तो समझ सकते हो ना कि हम भाई-भाई हैं। हमारा बाप बेहद का है। बाप आते ही हैं एक धर्म की स्थापना करने, ब्रह्मा द्वारा करते हैं। परन्तु लोग कुछ भी समझते नहीं हैं। ईश्वर अगर कभी न आया हुआ होता तो उनको बुलाते ही क्यों कि हे लिबरेटर आओ, हे पतित-पावन आओ। जबकि पतित-पावन को याद करते हैं फिर शास्त्र क्यों पढ़ते? तीर्थों पर क्यों जाते? वहाँ बैठा है क्या? कोई जानते ही नहीं जबकि पतित-पावन ईश्वर है तो गंगा स्नान आदि से कोई पावन हो कैसे सकते। स्वर्ग में कोई जा कैसे सकते, जन्म तो यहाँ ही लेना है। नई दुनिया और पुरानी दुनिया में फर्क तो है ना। इसको सतयुग थोड़ेही कहेंगे। अब तो कलियुग है ना। मनुष्यों की तो बिल्कुल पत्थरबुद्धि है। जहाँ थोड़ा सुख देखते हैं तो स्वर्ग समझ लेते हैं। यह बाप ही समझाते हैं, बाप कोई गाली नहीं देते हैं। बाप शिक्षा भी देते हैं, सबको सद्गति भी देते हैं। भगवान बाप है तो बाप से जरूर कुछ मिलना चाहिए। बाबा अक्षर भी ऐसा है जो उनसे वर्से की खुशबू जरूर आती है। और भल कितना भी काका, मामा आदि हैं परन्तु उनसे वर्से की खुशबू नहीं आती। अन्तर्मुख हो विचार करना है कि बाप ठीक कहते हैं। गुरू के पास कोई जायदाद होती नहीं। वह तो खुद ही घरबार छोड़ते हैं। तुमने सन्यास किया है विकारों का। वह तो कह देते हैं हमने घरबार छोड़ा, तुम कहते हो हम सारी दुनिया के विकारों का सन्यास करते हैं। नई दुनिया में जाना कितना सहज है। हम सन्यास करते हैं सारी पुरानी सृष्टि, तमोप्रधान दुनिया का। सतयुग है नई दुनिया। यह भी जानते हो नई दुनिया थी जरूर। सब गाते हैं। स्वर्ग कहा ही जाता है नई दुनिया को। परन्तु वो लोग सिर्फ कहने मात्र कह देते हैं, समझ कुछ नहीं। तो बाप बच्चों को कहते हैं सिर्फ यह विचार करो – बाबा, हमारा बाप भी है, शिक्षक और सतगुरू भी है। सबको ले जायेंगे। अक्षर ही दो हैं – मनमनाभव, इसमें सब आ जाता है, परन्तु यह भी भूल जाते हैं। पता नहीं बुद्धि में क्या-क्या याद रहता है। नहीं तो रोज़ लिखकर दो कि इतना समय हम किस अवस्था में बैठे थे? तुम बैठे हो बाप, टीचर, सतगुरू के सामने तो वही याद आना चाहिए ना। स्टूडेन्ट को टीचर ही याद आयेगा ना परन्तु यहाँ माया है ना। एकदम माथा ही मूड देती है। सारा राज्य-भाग्य ही ले लेती है। तुमको पता नहीं पड़ता है। आये तो थे वर्सा लेने परन्तु मिलता कुछ भी नहीं। ऐसे ही कहेंगे ना। भल स्वर्ग में तो चलेंगे, परन्तु वह कोई बड़ी बात थोड़ेही है। यहाँ आये भल परन्तु पढ़े नहीं, फिर स्वर्ग में तो जायेंगे ना। यहाँ तो बैठे है ना। समझते हैं स्वर्ग में जाना है, फिर क्या भी बनें। वह तो पढ़ाई नहीं हुई ना। थोड़ा भी सुना तो उसका फल मिल जाता है। पढ़ाई से तो बड़ी स्कॉलरशिप मिलती है। बाप से ऊंच ते ऊंच पद पाना है तो पुरूषार्थ करना पड़े। पढ़ाई याद होगी तो 84 का चक्र भी याद आ जायेगा। यहाँ बैठने से सब याद आना चाहिए। परन्तु यह भी याद आता नहीं है। अगर याद आये तो किसको सुनायें भी। चित्र तो सबके पास हैं। शिव के चित्र पर तुम कोई को सुनायेंगे तो कभी गुस्सा नहीं करेंगे। बोलो, आओ तो हम आपको बतायें कि यह शिव बेहद का बाप है ना। इनके साथ आपका क्या सम्बन्ध है? ऐसे फालतू चित्र तो नहीं होगा। शिव के लिए जरूर कहेंगे यह भगवान है, भगवान तो निराकार ही होता है। उनको बाप कहा जाता है। वह शिक्षा भी देते हैं। तुम्हारी आत्मा शिक्षा लेती है। आत्मा ही सब कुछ करती है। टीचर भी आत्मा बनती है। बाप भी इस रथ पर आकर पढ़ाते हैं। सतयुग की स्थापना करते हैं। वहाँ कलियुग का नाम निशान ही नहीं। मनुष्य कहाँ से आयेंगे। सर्विसएबुल बच्चों को सारा दिन ख्याल चलते रहते हैं। सर्विस नहीं करते तो समझा जाता है बुद्धि ही नहीं चलती। जैसे बुद्धू बैठे हैं। बाप को समझ नहीं सकते। पतित-पावन बाप को याद करने से ही वर्सा मिलेगा। याद करते-करते मरेंगे तो बाप की सब मिलकियत मिलेगी। बेहद के बाप की मिलकियत है स्वर्ग।

बच्चों के पास बैज भी है, घर में मित्र-सम्बन्धी आदि तो बहुत आते हैं। कोई मरता है तो भी बहुत आते हैं। उन्हों की भी तुम बहुत अच्छी सर्विस कर सकते हो। शिवबाबा का चित्र तो बहुत अच्छा है। भल बड़ा ही रख दो, इसमें कोई कुछ कहेंगे नहीं। ऐसे नहीं कहेंगे कि यह ब्रह्मा है। यह है गुप्त। तुम गुप्त भी समझा सकते हो। सिर्फ शिव का चित्र रखो और सब चित्र उठा दो। यह शिवबाबा बाप, टीचर, सतगुरू है। यह आते हैं नई दुनिया की स्थापना करने और संगम पर ही आते हैं। यह ज्ञान तो बुद्धि में है ना। बोलो, शिवबाबा को याद करो और किसी को याद नहीं करो। शिवबाबा पतित-पावन है, वह कहते हैं मुझे याद करो तो तुम मेरे साथ आकर मिलेंगे। तुम गुप्त सर्विस कर सकते हो। यह लक्ष्मी-नारायण इस नॉलेज से ही बने हैं। कहेंगे शिवबाबा निराकार है, वह कैसे आते हैं? अरे, तुम्हारी आत्मा भी तो निराकार है, वह कैसे आती है? वह भी ऊपर से आती है ना, पार्ट बजाने। यह भी बाप आकर समझाते हैं। बैल पर तो आ न सके। बोलेगा कैसे? साधारण बूढ़े तन में आते हैं। समझाने की भी बड़ी युक्ति चाहिए। कोई कहते तुम भक्ति नहीं करते हो? बोलो, हम तो सब कुछ करते हैं। युक्ति से चलना होता है। किसको उठाने लिए सोचना चाहिए – क्या युक्ति रचें? कोई को नाराज़ भी नहीं करना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ पवित्र रहना है। तुम कहते हो – बाबा, सर्विस नहीं मिलती है। अरे, सर्विस तो बहुत कर सकते हो। गंगा जी पर जाकर बैठ जाओ। बोलो, यह पानी में स्नान करने से क्या होगा? क्या पावन बन जायेंगे? तुम तो भगवान को कहते हो हे पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। फिर वह पतित-पावन है या यह? ऐसी नदियां तो ढेर हैं। बाप पतित-पावन तो एक ही है। यह पानी की नदियां तो सदैव हैं ही। बाप को तो पावन बनाने के लिए आना पड़ता है। आते भी हैं पुरूषोत्तम संगमयुग पर, आकर पावन बनाते हैं। वहाँ कोई पतित होता नहीं। नाम ही है स्वर्ग, नई दुनिया। अभी तो है पुरानी दुनिया। इस संगमयुग का तुमको ही पता है और कोई समझ न सके। बाप तो अनेक प्रकार की सर्विस की युक्तियां समझाते हैं। बुद्धू भी न बनो। कहते हैं अमरनाथ पर भी कबूतर होते हैं। पिज़न पैगाम पहुँचाते हैं। ऐसे नहीं, परमात्मा का पैगाम ऊपर से कबूतर लायेंगे। यह भी सिखलाते हैं। उनके पांव में लिखकर बांधेंगे तो ले जायेगा। उनको सहज रीति दाना मिलता है तो और कहाँ भटकने की दरकार नहीं। तुमको भी यहाँ दाना मिलता है, तुम्हारी बुद्धि में है विश्व की बादशाही, जो यहाँ से मिलती है। वह फिर समझते हैं दाना यहाँ मिलता है तो फिर हिर जाते हैं। तुम तो चैतन्य हो, तुमको अविनाशी ज्ञान रत्नों का दाना मिलता है। शास्त्रों में भी है चिड़ियाओं ने सागर को सुखाया। बहुत कथायें लिख दी हैं। मनुष्य कहेंगे सत। फिर कहते हैं सागर से देवता निकले। रत्नों की थालियां भरकर ले आये। कहेगे सत। अब समुद्र से देवता कैसे निकलेंगे? समुद्र में मनुष्य वा देवता रहते हैं क्या! कुछ भी समझते नहीं। जन्म जन्मान्तर झूठ ही पढ़ते-सुनते रहते हैं इसलिए कहते हैं झूठी माया…….। सच्चे और झूठे संसार में कितना रात-दिन का फर्क है! झूठ बोलते-बोलते इनसालवेन्ट बन पड़े हैं। तुम कितना युक्ति से समझाते हो, फिर भी कोटों में कोई को ही बुद्धि में बैठता है। यह है बहुत सहज ज्ञान और सहज योग। बाप, टीचर, सतगुरू को याद करने से उनकी शिफ्तें भी बुद्धि में आ जायेंगी। अपनी जांच करनी चाहिए। हम सब बाबा को याद करते हैं वा और तरफ बुद्धि जाती है? तुम्हारी बुद्धि को अभी समझ मिलती है। कितनी मीठी-मीठी बातें बाप समझाते हैं। युक्तियाँ बताते हैं। तुम कोई को बैठकर समझायेंगे फिर तुम्हारे दुश्मन भी नहीं बनेंगे। शिवबाबा ही तुम्हारा बाप, टीचर, सतगुरू है, उनको याद करो। समझाने की युक्ति रचनी चाहिए। ब्रह्मा के चित्र पर बहुत पीछे पड़ते हैं। शिव का चित्र देख कभी उड़ायेंगे नहीं। अरे, यह तो आत्माओं का बाप है ना। तो बाप को याद करो, इनसे बहुतों को फायदा हो सकता है। इनको याद करने से तुम पतित से पावन बन जायेंगे। वह सबका बाप है। एक बाप के सिवाए कोई की याद नहीं आनी चाहिए और संग तोड़ एक संग जोड़ना है। यह है किसके कल्याण करने की युक्तियां। बाप को याद ही नहीं कर सकेंगे तो पावन कैसे बनेंगे। घर में भी तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। बहुत मित्र-सम्बन्धी आदि तुमको मिलेंगे। भिन्न-भिन्न युक्तियां रचो। बहुतों का कल्याण कर सकते हो। हट्टी तो एक ही है। और कोई हट्टी है नहीं, तो जायेंगे कहाँ? अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉनिंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गृहस्थ व्यवहार में बहुत युक्ति से चलना है, कोई को नाराज़ भी नहीं करना है, पवित्र भी जरूर बनना है।

2) एक बाप से अविनाशी ज्ञान रत्नों का दाना ले अपनी बुद्धि रूपी झोली भरपूर रखनी है, बुद्धि को भटकाना नहीं है, पैगम्बर बन सबको बाप का पैगाम देना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में वैरायटी अनुभूतियों द्वारा रमणीकता का अनुभव करने वाले सम्पन्न आत्मा भव
जीवन में हर मनुष्य आत्मा की पसन्दी वैराइटी है। तो सारे दिन में भिन्न-भिन्न संबंध, भिन्न-भिन्न स्वरूप की वैराइटी अनुभव करो, तो बहुत रमणीक जीवन का अनुभव करेंगे। ब्राह्मण जीवन भगवान से सर्व संबंध अनुभव करने वाली सम्पन्न जीवन है इसलिए एक भी संबंध की कमी नहीं करना। अगर कोई छोटा या हल्का आत्मा का संबंध मिक्स हो गया तो सर्व शब्द समाप्त हो जायेगा। जहाँ सर्व है वहाँ ही सम्पन्नता है इसलिए सर्व संबंधों से स्मृति स्वरूप बनो।
स्लोगन:- बाप समान अव्यक्त रूपधारी बन प्रकृति के हर दृश्य को देखो तो हलचल में नहीं आयेंगे।

TODAY MURLI 24 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 23 August 2019:- Click Here

24/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the three words “Father, Teacher and Satguru” and you will develop many specialities.
Question: Which children continue to accumulate an income of multimillions at every step?
Answer: Those who continue to move forward at every step in service will continue to accumulate an income of multimillions. How would you receive multimillions if you didn’t take steps in Baba’s serviceService gives you multimillions at every step and it is by doing service that you become multimillionaires.
Question: By knowing which secret do you become benefactors for everyone?
Answer: Baba has told you children the secret of this being the only shop for everyone. Everyone definitely has to come here. This is a very deep secret. Only the children who know this secret can become benefactors for everyone.

Om shanti. Each and every spiritual child of the spiritual Father knows that Baba is our Father, Teacher and Satguru. You children know this but, even while knowing it, you repeatedly forget it. Those who are sitting here know this, but they forget it. People of the world don’t know it at all. The Father says: Simply remember these three words and you can do a lot of service. Many people come to you at the exhibitions and museums. Many friends and relatives also come to your homes. When anyone comes, you should explain: The One who is called God is Baba. He is also the Teacher and the Satguru. If you remember this, it is good. You should not remember anyone else. You cannot say this of anyone else. You children know that our Baba is the Father, the Teacher and also the Satguru. It is so easy! However, some people have such stone intellects that their intellects are unable to imbibe these three words; they forget them. Baba is changing us from human beings into deities, because He is the unlimited Father. He is the unlimited Father and so He would definitely give you the unlimited inheritance. Deities have the unlimited inheritance. If you remember just this much, you can do a lot of service at home too. However, because of forgetting even this much, you are unable to tell anyone anything. You repeatedly forget this, because you forgot it for the whole cycle. The Father now sits here and explains to you: In fact, this knowledge is very simple, but it requires effort to become complete through the pilgrimage of remembrance. Baba is our Father, He gives us teachings and also gives us the inheritance and makes us pure because the Father is the Purifier. He simply says: Tell everyone: Remember Me! If you don’t take any steps in Baba’s service, how would you receive multimillions? Only by doing service can you become multimillionaires. It is only service that brings multimillions at every step. Children come running from everywhere to do service. They continue to take so many steps. Only they are the ones who will receive multimillions. The intellect also says: Shudras first have to be made into Brahmins. If you don’t make them into Brahmins, what would they become? Service is needed. Children are told service news so that they become tempted. It was by doing service that you received multimillions. Tell them just the one thing that no one else in the world knows. The unlimited Father is the Father but no one knows Him. They simply continue to say, “God the Father“. It is not in anyone’s intellect that He is also the Teacher. The teacher is always remembered by the students. Those who don’t study well are said to be uneducated. Baba says: It doesn’t matter. Even if you haven’t studied anything, you can at least understand that you are brothers. Our Father is the unlimited One. The Father comes to establish the one religion and He does that through Brahma. However, people don’t understand anything. If God had never come, why would then call out to Him: “O Liberator, come! O Purifier, come!” Since they remember the Purifier, why do they study the scriptures? Why do they go on pilgrimages? Is He sitting there? No one understands that since God is the Purifier how anyone could become pure by bathing in the Ganges. How could anyone go to heaven? They have to take birth here. There is a difference between the new world and the old world. This world cannot be called the golden age. It is now the iron age. Human beings have completely stone intellects. When they see a little happiness, they think that this is heaven. Only the Father explains this. He is not insulting you. The Father gives you teachings and also grants salvation to everyone. God is the Father and so you should definitely receive something from God. The word “Baba” is such that you definitely receive the fragrance of an inheritance. No matter how many maternal and paternal uncles etc. you have, you don’t receive the fragrance of an inheritance from them. You have to become introverted and realise that what the Father is saying is right. A guru doesn’t have property. He has renounced his home and family, whereas you have renounced the vices. They say that they have renounced their homes and families, whereas you say that you have renounced the vices of the whole world. It is so easy to go to the new world! We renounce the whole of the old world, the tamopradhan world. The golden age is the new world. You know that there definitely was the new world. Everyone remembers it. The new world is called heaven, but those people simply say that for the sake of saying it; they don’t understand anything. The Father tells you children: First think about this. Baba is our Father, our Teacher and also our Satguru. He will take everyone back home. There are just two words: Man manabhav! Everything is included in that. However, you even forget that. One can never tell what you continue to remember with your intellects! Otherwise, you can give it in writing every day what stage you were sitting in and for how long. You are sitting in front of the Father, Teacher and Satguru and so you should only remember Him. A student would only remember his teacher. However, Maya is here too. She completely scalps your head. She takes away your fortune of the whole kingdom and you are not even aware of it! You came to claim your inheritance, but you didn’t receive anything. This is what you would say. Even though you would go to heaven, that is not such a big thing. Even if you come here but don’t study, you will go to heaven. You are sitting here. You understand that you have to go to heaven, and so you think that it doesn’t matter what you become. That is not studying. Even if someone hears just a little, he definitely receives the fruit of that. You receive a scholarship by studying. You have to claim the highest-on-high status from the Father and so you definitely do have to make effort. If you remember the study you would also remember the cycle of 84 births. Everything should be remembered while sitting here, but even that is not remembered. If you remembered that, you would also then tell others about it. Everyone has the pictures. If you explain the picture of Shiva to others, they would never get angry. Tell them: Come and we will tell you how Shiva is our unlimited Father. What is your relationship with Him? They would not be useless pictures. It would definitely be said of Shiva that He is God and that God can only be the incorporeal One. He is called the Father. He also gives us teachings. You souls are receiving teachings. It is the soul that does everything. It is the soul that becomes a teacher. The Father enters this chariot and also teaches us. He carries out establishment of the golden age. There is no name or trace of the iron age there. Where would human beings come from? Serviceable children think of these things throughout the whole day. If some don’t do service, it is understood that their intellects do not work at all. It is as though there are buddhus sitting here; they cannot understand the Father. It is only by remembering the Purifier Father that you receive the inheritance. If you die while remembering the Father, you will receive all His property. The property of the unlimited Father is heaven. You children have your badges with you. Many friends and relatives come to visit you at home. When someone dies, many people go and visit that person’s home. You can serve all of them very well. Shiv Baba’s picture is very good. Even if you keep a big picture, no one would say anything. They would not say that that is Brahma. This one is incognito. You can also explain to them in an incognito way. Simply keep a picture of Shiva and remove all the other pictures. This is Shiv Baba, the Father, Teacher and Satguru. He comes to establish the new world and He only comes at the confluence age. You have this knowledge in your intellects. Tell them: Remember Shiv Baba. Do not remember anyone else. Shiv Baba is the Purifier. He says: Remember Me and you will meet Me. You can do incognito service. Lakshmi and Narayan became that by studying this knowledge. They ask: Shiv Baba is incorporeal, so how does He come? Ah, but you souls too are incorporeal, so how do you come? Souls also come down from up above to play their parts. The Father comes here and explains this to you. He cannot enter a bull. How would He then speak? He enters an ordinary old body. A very good method is needed to explain this. Some people ask you whether you still do devotion. Tell them: We do everything. You have to conduct yourself tactfully. You should think about what method to use to uplift others. You mustn’t upset anyone. While living at home with your family, simply remain pure. You say: Baba, I don’t get any service to do. Oh! You can do a lot of service. Go and sit by the River Ganges. Ask them: What will happen by bathing in the Ganges? Will you become pure? You say to God: O Purifier, come! Come and purify us! So, is He the Purifier or is the Ganges? There are many such rivers. The Father, the Purifier, is only One. Those rivers of water exist all the time. The Father has to come here to make you pure. He comes at the most auspicious confluence age and makes you pure. There is no one impure there; the very name is heaven, the new world. It is now the old world. Only you know about this most auspicious confluence age. No one else can understand it. The Father explains to you many types of methods for doing service. Do not become buddhus. They say that there are pigeons at Amarnath who carry messages. It isn’t that pigeons will bring God’s message from up above. Pigeons are trained to carry messages which are tied to their legs. After doing it, the pigeons easily get seeds to eat so that they don’t need to wander around. You too receive seeds here; you have the sovereignty of the world in your intellects and you receive that here. They think that they will get seeds there and so they get used to that. You are living beings; you receive the seeds of the imperishable jewels of knowledge. It is mentioned in the scriptures that sparrows drank the ocean dry. They have written many such stories. People would say: That is true! They are then told that deities emerged from the ocean and that they brought platefuls of jewels with them! They would say: That is true! How can deities emerge from an ocean? Do human beings or deities reside in an ocean? They don’t understand anything. For birth after birth, everything they have been reading and hearing has been false. This is why it is said: Maya is false…. There is the difference of day and night between truth and falsehood in the world. By speaking lies, they have become insolvent. You explain with such tact but, in spite of that, it sits in the intellects of only a handful out of many. This is very easy knowledge and easy yoga. When you remember the Father, Teacher and Satguru, their specialities will enter your intellects. You should check yourselves. Do I remember Baba all the time or does my intellect go in other directions? Your intellects now receive understanding. The Father explains such sweet things to you. He shows you methods. If you sit and explain to others, they won’t become your enemies. Shiv Baba alone is your Father, Teacher and Satguru. Remember Him. Methods to explain have to be created. People constantly ask you about the picture of Brahma. They would never have disregard for the picture of Shiva. Oh! But He is the Father of souls. So remember the Father. Many people can benefit from that. By remembering that One, you will become pure from impure. He is the Father of all. There shouldn’t be remembrance of anyone except the One. Break away from everyone else and connect yourself to only the One. These are methods to benefit others. If you are unable to remember the Father, how would you become pure? You can do a lot of service at home. You will find many friends and relatives. Create many different methods. You can benefit many. There is only the one shop. There are no other shops, so where else would they go? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Interact very tactfully with everyone at home and with your family. Do not upset anyone. Definitely become pure.
  2. Take the seeds of the imperishable jewels of knowledge from the one Father and keep the apron of your intellect full. Do not allow your intellect to wander. Become a messenger and give the Father’s message to everyone.
Blessing: May you be a soul who experiences entertainment in Brahmin life through a variety of experiences and becomes full.
Human beings prefer to have variety in their lives. So, throughout the day, experience a variety of different relationships and different forms and you will experience life to be very entertaining. Brahmin life is a full life in which you experience all relationships with God. Therefore, let there not be a single relationship missing. If a small or insignificant relationship is missing from the soul, then the word “all” finishes. Where there is “all”, there is fullness and so, become an embodiment of remembrance with all relationships.
Slogan: Be one with an avyakt form, like the Father, and observe every scene of nature and you have no upheaval in you.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 24 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 August 2018 :- Click Here

24/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the confluence age is beneficial for Brahmins. Therefore, always have spiritual intoxication. Don’t worry about anything.
Question: What are the signs of those whose stage is good?
Answer: They never cry about anything. They never wilt. They never feel sorrow or regret. They watch every scene as detached observers. They never ask “Why?” or “What?” They never remember the name or form of anyone. They remain cheerful in remembrance of one Baba.
Song: Mother, o Mother, you are the bestower of fortune for the world!

Om shanti. You sweet children have been given an order to continue to remember the unlimited Father. Listen to this knowledge of yoga from all the children with a name and form who are engaged in the Father’s service. They too will tell you: Remember the Father because you receive the inheritance from Him. This too is what Mama said. Children also say: Remember Shiv Baba. You children are sitting here in remembrance of Shiv Baba. You don’t have to worry about anything because you are receiving your inheritance from the unlimited Father. When anyone sheds his or her body and goes away, we would say that that was destined, that it also happened in the previous cycle. You have to move along with the drama so that there are no worries. Today, Mama has gone and tomorrow, someone else will go, but the Father definitely has to speak the murli. Baba continues to tell you children new points and explain their meaning. He tells everyone: Children, remember the Father. Don’t become trapped in anyone’s name or form. This knowledge is for all children. As you progress further, you will see many wonderful things. At this time, there are things of sorrow. However, we are not worried about that sorrow. Look, this Baba (sakar Baba) doesn’t have any worries because he knows that he has to remember Baba alone and claim his inheritance from Baba. Baba has explained that no inheritance is received from the creation. The creation is to receive their inheritance from the Creator. Therefore, all the creation (sons and daughters) have to remember the one Creator, no matter what happens. When any such obstacle comes, there is no question of doubt about it because you only have to remember one Shiv Baba. It is in this that there is benefit for you children. If someone goes away having done good service, it should be understood that whoever goes away has to go and play his part somewhere else. All of this happens for one benefit or another because the Father is the Benefactor and this confluence age is also beneficial for Brahmins. Maintain spiritual intoxication by knowing that there is benefit in everything because we are the children of God. We are claiming our inheritance from God. If they go away while claiming their inheritance, they must definitely have another part to play; they have to carry out a greater task. It is our great fortune that we have the parts to become the Father’s helpers as we did in the previous cycle. Generally, even while being a helper, anyone can die. We understand that all of this happens according to the drama. So what if someone has gone? We don’t have to do anything for that person. Everything of ours is incognito. In fact, those who never shed tears have a good stage. Never think: Mama has left her body and so what will happen now? If you shed tears, you fail. The Father who is giving all of us the inheritance is sitting here. He is immortal and so there is no need to shed any tears for Him. We ourselves are making effort to shed our bodies in happiness. Mama had to go somewhere else for a particular task and that too was in the drama. There is benefit according to their stage for those who leave their bodies. They will take birth in very good homes and give them happiness. Even little children make everyone happy. Everyone praises such children. So, everything of the children depends on the drama and the Father. Always consider that whatever happens, second by second, is also fixed in the drama and remain constantly happy and cheerful. We people must never become trapped in anyone’s name or form. We know that this is a body and that it has to go at some point. Each one’s part is fixed. If we cry, would that person’s part be changed by our crying? This is why you children have to remain absolutely bodiless, peaceful and cheerful. If you want to claim the unshakeable immovable kingdom, you have to become like this. When any incident takes place, it would be said to be the destiny of the drama. There is nothing to regret in that. The same thing also happened in the previous cycle. Incidents will take place. Earthquakes take place as you move along. It isn’t that any one of you is not going to die; no; anyone can die. Any incident can take place. This is why Baba explains: Children, always stay in remembrance of the Father and maintain your spiritual intoxication. Whatever part each one has received, he plays that part. What do we have to do with that? Our knowledge is such that even if your mother dies you have to eat halva, which means that you have to give the jewels of knowledge. For instance, Baba says: This Baba might also go away. Nevertheless, you children have already received the knowledge that you have to claim your inheritance from Shiv Baba, not from this one. The Father says: All of these children of Mine are claiming their inheritance from Me and showing the path to others. You children have to become sticks for the blind. Give the Father’s introduction. Have mercy for everyone. Your effort is that when you see someone is unhappy, you have to show that person the path to happiness. No one in this world, apart from the one Father, can show you the path to happiness. The Liberator and Remover of Sorrow and Bestower of Happiness is only the One. You have to remember Him alone. No matter what happens, there can be no question of sorrow here. We know that your Mama is remembered as the number one serviceable child. She has been portrayed with a sitar in her hands. Truly, Jagadamba, that is, Mateshwari used to explain very well. She also used to say: Remember Shiv Baba. Don’t remember me. Manmanabhav, madhyajibhav. These two terms are very well known. The rest is detail. No matter what the circumstances are, if any of you have doubts as to what happened or why it happened, you are only bringing a loss to yourselves. You children should not experience sorrow in any situation. Even if you are ill, or if there is something else, that is the suffering of karma. Some ask Baba: Baba, what is this? Baba would reply: That is the suffering of your karma. If something in the drama is not to be told to you in advance, how can I tell you that? This Baba also watches everything as a detached observer. So, you children also have to watch everything as detached observers and stay in remembrance of the Father with spiritual intoxication: I am a child of God. We are God’s grandsons and granddaughters. We are claiming our inheritance from God. We know that Mama left her body while claiming her inheritance from God. Each one of us has to remember the Father and the inheritance. Everything depends on effort. You children can also realise that, to the extent you study, you can claim a high status and become elevated princes. There are the sun-dynasty princes and princesses and the moon-dynasty princes and princesses. Therefore, you children have to study. No matter what happens, you definitely have to study. It isn’t that if someone’s mother or father dies, he stops studying; no. So, you too have to study every day. You mustn’t miss the study for even one day. You definitely also have to do service under all circumstances. Just keep Baba alone in your intellects at every moment. He alone is teaching you and you have to claim your inheritance from Him alone. He has opened the locks on our intellects. We have the knowledge of Brahmand, the subtle region and the beginning, the middle and the end of the world in our intellects. Through this knowledge we become the rulers of the globe. Simply stay in this pleasure and intoxication and tell everyone this knowledge in the same way because you children who have become firm Brahmins don’t have any worries. There is nothing to make you wilt or worry about in this. You need to have a good stage. You understand that you are definitely going to gain victory at the end. Many people will come to claim their inheritance. No matter what happens, your service will continue to grow. Just let your activity be divine. There mustn’t be any devilish traits here. If you fight or quarrel with anyone or say bitter words to someone or are tempted or have greed or anger etc., there will have to be very severe punishment. Therefore, you mustn’t cause sorrow for anyone. Show everyone the path to happiness. Even if a small child is causing mischief, you mustn’t smack him. Interact with him too with love. Be very tactful at home with everyone. There are some who understand everything very well here, but as soon as they go home, Maya distresses them. The Father understands that storms will continue to come forcefully to you children. Day by day, there will continue to be storms and obstacles. You mustn’t be afraid. The Father says: There will be many obstacles in this sacrificial fire of knowledge of Mine because this is new knowledge. When someone asks if you believe in the scriptures, tell him: Yes, we believe in them. All of those scriptures are of the path of devotion whereas this is the path of knowledge. The Father, the Lord of Knowledge (Gyaneshwar), says: Remember Me. That’s all! I also tell you: Remember the Father. Whether you do it or not is up to you. It is now hell, the kingdom of Ravan. Now remember the Father and heaven. You have been bathing in the Ganges for birth after birth. In spite of that, the world has continued to become impure. The Father now says: Simply remember Me. You will see those sanskars in those who belong here; they will understand very quickly. You now have unlimited intellects. Those who are sensible are called those with wise intellects. So, you have to maintain that intoxication. There is no question of sorrow etc. We now know that the drama is being enacted. You would say: Wah! Mama left! That actor went to perform another act. There is no need to be confused, to cry or experience sorrow. She has gone to do elevated service. Day by day, you become elevated. Even if some shed their bodies, they will go and do elevated service. This is why you children should not feel any sorrow. Not just Mama, everyone will go. We too have to go to Baba. Our connection is with Baba. Everyone is only connected with Baba. Mama was also connected with Baba. She took this knowledge from Him, did service and has now gone to play another part for some other service. We observe all of this as detached observers. You shouldn’t feel: Mama has gone. So-and-so has gone. This one has gone. The soul has gone to do service. All the bodies are going to turn to dust anyway. Therefore, you children should not worry about anything. Yes, it is true that that student of Baba’s was very good. It is remembered that she used to explain very well. If any type of doubt arises, then everything is over; your status will be destroyed. This is why Baba continues to explain to you children: Children, don’t worry about anything. Continue to put into practice the directions you receive. Don’t think: What happened? Those who forget the Father and the knowledge will worry. All of you children are master knowledgefull. Whatever part each one has, what can we do about that? Achcha.

All of you sat in remembrance during the night and you earned a good income. Baba comes here and sees the children. He is pleased that a garden is being created. You are now Brahmins and the garden of deities will then be created. Here, all of you are effort-makers. You are trying to become good flowers. There will be a show of thorns transformed into flowers. You have to sit here while being very stable. Look how Baba is making you so strong. You have received Baba’s order: Simply remember Me alone. If someone cries, Baba would say: Those who cry lose out. Baba is seeing whether someone is a wilted flower. No; all of you are mahavirs. Such obstacles will come. This is the drama and this is destiny. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, the stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your activities divine. Never fight or quarrel. Don’t use bitter words. Don’t have any temptation or greed. Don’t cause anyone sorrow. Show everyone the path to happiness.
  2. Don’t have doubts when obstacles come. Understand the guaranteed destiny of the drama and maintain your spiritual intoxication. Don’t worry about anything.
Blessing: May you be an incarnation of Shakti (power) and make the crooked path straight with the experience of being constantly full.
Remain constantly full with the treasures of power, virtues, knowledge and happiness and, with the intoxication of your being full, the crooked paths will become straight. If you are empty, a hole will be created and by falling into the hole, you might sprain your ankle. The thoughts of those who are weak and empty are sprained. An “incarnation of Shakti” means one who takes the contract of making a crooked path straight. Those who take such contracts never say that the path is crooked. If someone falls, it means he had a lack of paying attention or that his intellect was not full.
Slogan: Those who imbibe spiritual intoxication are spiritual roses.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 August 2018

To Read Murli 23 August 2018 :- Click Here
24-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – संगमयुग ब्राह्मणों के लिए कल्याणकारी है इसलिए सदा फखुर में रहना है, किसी बात का फिक्र नहीं करना है”
प्रश्नः- जिनकी अवस्था अच्छी है, उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- उन्हें किसी भी बात में रोना नहीं आयेगा। मुरझायेंगे नहीं, गम वा अफसोस नहीं होगा। हर सीन साक्षी होकर देखेंगे। कभी क्यों, क्या के प्रश्न नहीं करेंगे। किसी के नाम रूप को याद नहीं करेंगे, एक बाबा की याद में हर्षितमुख रहेंगे।
गीत:- माता ओ माता …. 

ओम् शान्ति। मीठे बच्चों को फरमान है कि बेहद के बाप को याद करते रहो। जो भी नाम रूप वाले बच्चे बाप की सर्विस में हैं, उनसे यह ज्ञान और योग सुनना है। वह भी यही सुनायेंगे कि बाप को याद करो क्योंकि वर्सा उनसे मिलता है। मम्मा भी तो वही सुनाती है, बच्चे भी वही सुनाते हैं कि शिवबाबा को याद करो। तुम बच्चे यहाँ शिवबाबा की याद में बैठे हो, तुम्हें कोई फिकर नहीं करना है क्योंकि तुम बेहद के बाप से यह वर्सा ले रहे हो। इनमें कोई भी शरीर छोड़कर जाते हैं तो हम कहेंगे कि यह भी भावी है। कल्प पहले भी यह हुआ था क्योंकि ड्रामा के ऊपर भी तो चलना पड़े ना, जिससे कोई फिक्र नहीं रहे। आज मम्मा गई, कल और भी कोई चले जायेंगे फिर भी बाप को मुरली सुनानी है जरूर। बाबा तुम बच्चों को नई-नई प्वाईन्ट्स सुनाते, उनका अर्थ समझाते रहते हैं और यही सबको कहते हैं कि बच्चे बाप को याद करो, कोई भी नाम रूप में फसों मत। यह तो सब बच्चों के लिए ज्ञान है। आगे चल करके और भी बहुत कुछ वन्डरफुल बातें देखने की हैं। इस समय तो हैं ही दु:ख की बातें, परन्तु उस दु:ख का हमें कोई फिकर नहीं है। देखो, यह बाबा (साकार) तो कोई फिकर में नहीं है क्योंकि जानते हैं कि हमको तो बाबा को ही याद करना है, हमको बाबा से वर्सा लेना है। बाबा ने समझाया है कि क्रियेशन से कोई वर्सा नहीं मिलता है, क्रियेशन को क्रियेटर से वर्सा मिलना है इसलिये जो भी क्रियेशन (बच्चे और बच्चियां) हैं, उन्हें एक क्रियेटर को याद करना है। चाहे कुछ भी हो जाये। समझो कोई भी ऐसा विघ्न पड़ता है तो उसमें संशय की तो कोई बात ही नहीं है क्योंकि एक शिवबाबा को ही याद करना है, इसमें ही बच्चों का कल्याण है। अगर कोई अच्छी सर्विस करते-करते चला जाता है तो समझना चाहिए कि जो भी कोई जाता है, उसे जा करके और कहाँ पार्ट बजाना है। कोई न कोई कल्याण के कारण यह सब कुछ होता है क्योंकि बाप कल्याणकारी है और यह संगमयुग ब्राह्मणों का है ही कल्याणकारी। हर एक बात में कल्याण समझ फखुर में ही रहना है क्योंकि हम ईश्वरीय सन्तान हैं। ईश्वर से वर्सा लेते हैं, वर्सा लेते-लेते कोई चले जाते हैं तो जरूर उनका कोई और पार्ट होगा, इससे भी जास्ती कोई कार्य करना है।

अहो सौभाग्य! जो हमारा ही पार्ट है कल्प पहले मुआफिक बाप के मददगार बनने का। मददगार बनते-बनते कोई जनरल भी मर पड़ते हैं। हम समझते हैं ड्रामा अनुसार ही यह सब कुछ होता है, कोई गया तो क्या हुआ। हमें उनके लिए कुछ करना नहीं है। हमारा तो सब कुछ गुप्त है। वास्तव में अवस्था उनकी अच्छी है, जिन्हें कभी आंसू न आये। कभी ऐसे भी न समझे कि मम्मा का शरीर छूट गया, अब क्या होगा! ऑसू आये तो नापास हो जायेंगे क्योंकि बाप बैठा है ना, जो हम सबको वर्सा दे रहे हैं। वह तो अमर ही है, उसके लिये कभी कोई ऑसू आने की दरकार भी नहीं है। हम तो खुद भी खुशी से शरीर छोड़ने के लिये पुरुषार्थ कर रहे हैं। मम्मा का भी कोई कार्य अर्थ इस समय जाने का था, यह भी ड्रामा है। कोई भी अपनी अवस्था अनुसार शरीर छोड़े तो उनका कल्याण है। बहुत अच्छे घर में जन्म लेकरके वहाँ भी कुछ अपनी खुशी देंगे। छोटे-छोटे बच्चे भी सबको खुश कर देते हैं। सभी उनकी बहुत महिमा करते हैं। तो बच्चों का ड्रामा के ऊपर और बाप के ऊपर मदार है। जो कुछ भी होता है, सेकण्ड बाय सेकण्ड.. वह ड्रामा की नूँध है, ऐसा समझ करके खुशी में, सदा हर्षित रहना चाहिए।

कोई भी नाम रूप में हम लोगों को फंसना नहीं है। पता है यह शरीर है, इसको तो जाना ही है। हरेक का पार्ट नूँधा हुआ है, हम रोयेंगे तो क्या रोने से उनका पार्ट बदल सकता है, इसलिये बच्चों को बिल्कुल अशरीरी, शान्त और फिर हर्षितमुख रहना है। अटल, अखण्ड राज्य लेना है तो ऐसा बनना भी है। कोई भी इत़फाक हो जावे तो कहेंगे भावी है ड्रामा की, अफसोस की तो कोई बात नहीं। कल्प पहले भी ऐसे ही हुआ था। इतफाक तो होने ही हैं, चलते-चलते अर्थक्वेक्स हो जाते हैं। ऐसे नहीं है कि तुम्हारे में से कोई नहीं मरने हैं, नहीं। कोई भी मर सकते हैं, कोई भी इत़फाक हो सकता है इसलिए बाबा समझाते हैं कि बच्चे हमेशा बाप की याद में, फ़खुर में रहो। इसमें जो पार्ट जिसको मिला हुआ है वह बजाता है, उसमें हमको क्या करना है। हमारा ज्ञान ही ऐसा है – अम्मा मरे तब भी हलुआ खाना, यानि ज्ञान रत्न देना। समझो बाबा कहता है, यह बाबा भी चला जाये… तो तुम बच्चों को फिर भी नॉलेज तो मिली हुई है कि हमको शिवबाबा से वर्सा लेना है, इनसे तो नहीं लेने का है। बाप कहते हैं यह सब बच्चे जो हैं मेरे से वर्सा ले करके दूसरों को रास्ता बताते हैं। तुम बच्चों को अन्धों की लाठी बनना है, बाप का परिचय देना है। हरेक के ऊपर मेहर करना है। तुम्हारा यही पुरुषार्थ है कि यह बिचारे दु:खी हैं, इनको सुख का रास्ता बतायें। इस दुनिया में सिवाए एक बाप के और कोई भी सुख का रास्ता बताने वाला है ही नहीं। लिबरेटर, दु:ख हर्ता सुख कर्ता एक ही है, उनको ही याद करना है।

यहाँ दु:ख की कोई भी बात नहीं होनी चाहिए, कुछ भी हो जाये। भले हम जानते हैं तुम्हारी मम्मा सर्विसएबुल सबसे नम्बरवन गाई जाती है। उनके हाथ में सितार दिखाते हैं, बरोबर जगदम्बा यानि मातेश्वरी वह बहुत अच्छा समझाती थी। वह भी कहती थी कि शिवबाबा को याद करो। मुझे नहीं याद करना। मनमनाभव, मध्याजीभव – यह दो अक्षर मशहूर हैं। बाकी तो डिटेल है।

तो कोई भी हालत में, कोई भी संशय किसको पड़े, यह क्या हुआ, ऐसा क्यों हुआ… तो इससे अपना ही नुकसान कर देंगे। तुम बच्चों को कोई भी हालत में दु:ख की महसूसता नहीं आनी चाहिए। भले बीमारी हो, कुछ भी हो… यह तो कर्मभोग है। बाबा से पूछते हैं – बाबा यह क्या है? बाबा कहेंगे यह तुम्हारा कर्मभोग है। अगर कोई बात ड्रामा में पहले से बताने की नहीं है तो मैं कैसे बताऊं…! यह बाबा भी साक्षी हो करके देखते हैं, तो बच्चों को भी साक्षी हो करके देखना है और बाप की याद में फ़खुर में रहना है कि हम ईश्वर की सन्तान हैं, ईश्वर के पोत्रे और पौत्रियाँ हैं। ईश्वर से वर्सा ले रहे हैं। बरोबर हम जानते हैं मम्मा ने भी ईश्वर का वर्सा लेते-लेते, शरीर छोड़ दिया। हम हर एक को तो बस बाप और वर्से को याद करना है। सारा मदार पुरुषार्थ पर है। यह बच्चे भी महसूस कर सकते हैं कि जितना हम पढ़ेंगे उतना ऊंचा पद पायेंगे। ऊंचा प्रिन्स बनेंगे। सूर्यवंशी भी प्रिन्स और चन्द्रवंशी भी प्रिन्स एण्ड प्रिन्सेस हैं। तो बच्चों को पढ़ाई पढ़ना ही है, कुछ भी हो जाये पढ़ना जरूर है। ऐसे थोड़ेही है – कोई का माँ/बाप मरता है तो बच्चा पढ़ाई छोड़ देगा, नहीं। तो तुमको भी पढ़ाई रोज़ पढ़ना है। तुम्हें एक दिन भी पढ़ाई नहीं छोड़नी है, सर्विस भी हर हालत में जरूर करनी है। हर वक्त बुद्धि में वही एक बाबा याद रहे। तुम्हें वही पढ़ा रहे हैं और उनसे ही वर्सा लेना है। उसने ही हमारी बुद्धि का ताला खोला है। सारे ब्रह्माण्ड, सूक्ष्मवतन और फिर सृष्टि के आदि मध्य अन्त का ज्ञान हमारे बुद्धि में है। इसी ज्ञान से हम चक्रवर्ती बनते हैं। बस, उसी नशे में, मौज में रह सबको सुनाना भी ऐसे ही है क्योंकि तुम बच्चे जो पक्के ब्राह्मण बने हो, तुन्हें कोई फिक्र नहीं है। इसमें कोई मुरझाने की, फिक्र करने की बात ही नहीं है। ऐसी अच्छी अवस्था चाहिए।

तुम समझते हो कि अन्त में विजय हमारी होनी ही है, ढेर के ढेर अपना वर्सा लेने के लिये आयेंगे। कुछ भी हो, तुम्हारे सर्विस की वृद्धि होती ही रहेगी, सिर्फ तुम्हारी एक्टिविटी दैवी चाहिए। उसमें कोई भी आसुरी गुण नहीं चाहिए। किससे लड़ना, झगड़ना, किससे कडुवा बोलना या अन्दर में कुछ लालच, लोभ, क्रोध ..आदि अगर होगा तो बहुत कड़ी सजा खानी पड़ेगी इसलिए कोई को भी दु:ख नहीं देना है। सबको सुख का रास्ता बताना है। कोई छोटे बच्चे हैं, चंचलता करते हैं तो भी चमाट नहीं मारनी है। उन्हें भी प्यार से चलाना है। घर में भी बड़ा युक्ति से चलना है। कई हैं जो यहाँ बहुत अच्छी तरह से समझते हैं, घर में जाते हैं तो उन्हें माया हैरान करती है। यह भी बाप समझते हैं कि बच्चे तूफान जोर से आते रहेंगे, दिनप्रतिदिन तूफान और विघ्न पड़ते रहेंगे, तुम्हें घबराना नहीं है। बाप कहते हैं इस हमारे रूद्र ज्ञान यज्ञ में अथाह विघ्न पड़ेंगे, क्योंकि यह नई नॉलेज है।

कोई पूछते हैं तुम शास्त्रों को मानते हो? बोलो हाँ, मानते हैं यह सब भक्तिमार्ग के शास्त्र हैं। यह ज्ञान मार्ग है। ज्ञानेश्वर बाप कहते हैं मुझे याद करो बस, हम भी तुमको कहते हैं बाप को याद करो। करो न करो तुम्हारी मर्जी। अभी नर्क है, रावण राज्य है। अब बाप और स्वर्ग को याद करो। तुम गंगा में स्नान तो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो, फिर भी दुनिया पतित बनती आई है। अभी बाप कहते हैं बस, मुझे याद करो। जो यहाँ के होंगे उनके संस्कार ही देखने में आयेंगे, वह झट समझ जायेंगे।

तुम अभी बेहद के बुद्धिवान हो। सयाने को बुद्धिवान कहा जाता है। तो तुम्हें उसी नशे में रहना है। बाकी गम की कोई बात नहीं है, यह हम जान गये कि ड्रामा चल रहा है। तुम कहेंगे वाह! मम्मा गई! वह एक्टर दूसरा एक्ट करने गई। इसमें मूंझने की, रोने की, दु:ख की दरकार नहीं है। वह कोई ऊंची सर्विस करने के लिये गई। तुम दिन-प्रतिदिन ऊंचे बनते जाते हो। कोई शरीर छोड़ेगा तो भी ऊंची सर्विस जाके करेगा, इसलिए बच्चों को कोई भी दु:ख नहीं होना चाहिए। मम्मा क्या, सभी जायेंगे। हमको भी बाबा के पास जाना है, हमारा काम है बाबा से। सबका काम है बाबा से, मम्मा का काम था बाबा से। अभी उनसे वह नॉलेज पा करके सर्विस करके जाके कोई दूसरी सर्विस के लिये दूसरा पार्ट बजाने गई। हम साक्षी हो करके देखते हैं। ऐसे नहीं कि मम्मा चली गई, फलानी चली गई, यह चली गई… अरे आत्मा सर्विस के लिये गई। शरीर तो सब खाक में ही मिलने हैं। इसलिये कभी भी बच्चों को कोई प्रकार का फिक्र नहीं करना है। हाँ, यह सत्य है, यह जो स्टूडेन्ट बाबा का था, यह बड़ा अच्छा था। अच्छा समझाता था… गाया जाता है। अगर कोई भी प्रकार का संशय आया तो यह खत्म हुआ, पद से भ्रष्ट हो जायेगा इसलिये बाबा बच्चों को समझाते रहते हैं बच्चे, कोई प्रकार का फिक्र नहीं करो। डायरेक्शन्स जो मिलते हैं उन्हें अमल में लाते रहो। ऐसे मत समझो कि यह क्या हो गया? फिक्र उनको होगा जो बाप को और नॉलेज को भूलेगा। तुम बच्चे सभी मास्टर नॉलेजफुल हो। जिसका जो पार्ट है, उसमें हम कर ही क्या सकते हैं?

अच्छा – रात्रि को तो सब याद में बैठे, अच्छी कमाई हो गई। बाबा यहाँ आ करके बच्चों को देखते हैं, खुश होते हैं कि यह बगीचा बन रहा है। अभी ब्राह्मण हैं, इसके पीछे देवी-देवताओं का बगीचा बनना है। अभी यहाँ सब पुरुषार्थी हैं। कोशिश कर रहे हैं अच्छा फूल बनने की। कांटे को फूल बनाने का शो करेंगे। तुम्हें यहाँ स्थेरियम होकर बैठना है। बाबा देखो कितना पक्का कराते हैं। बाबा का फरमान मिला हुआ है सिर्फ मुझे याद करो। कोई ने रोया तो बाबा कहेंगे जिन रोया तिन खोया। बाबा देख रहा है कोई मुरझाया हुआ फूल तो नहीं है? नहीं। सब महावीर हैं। ऐसे-ऐसे विघ्न तो आने ही हैं। ड्रामा है, भावी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे ज्ञान सितारों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी दैवी एक्टिविटी बनानी है। कभी भी लड़ना, झगड़ना नहीं है, कडुवा नहीं बोलना है, लोभ लालच नहीं रखना है। कोई को दु:ख नहीं देना है। सबको सुख का रास्ता बताना है।

2) कोई भी विघ्न में संशय नहीं उठाना है, ड्रामा की निश्चित भावी समझ फखुर में रहना है, फिक्र नहीं करना है।

वरदान:- सदा भरपूरता की अनुभूति द्वारा टेढ़े रास्ते को सीधा बनाने वाले शक्ति अवतार भव
सदा शक्ति के, गुणों के, ज्ञान के, खुशी के खजाने से भरपूर रहो तो भरपूता के नशे से टेढ़ा रास्ता भी सीधा हो जायेगा। अगर खाली होंगे तो खड्डा बन जायेगा और खड्डे में गिरने से मोच आयेगी। जो कमजोर और खाली होते हैं उन्हें संकल्पों की मोच आती है। शक्ति अवतार अर्थात् टेढ़े को सीधा करने का कान्ट्रैक्ट लेने वाले। ऐसा कान्ट्रैक्ट लेने वाले कभी यह नहीं कह सकते कि रास्ता टेढा है। अगर कोई गिरते हैं तो अटेन्शन की कमी है या बुद्धि भरपूर नहीं है।
स्लोगन:- रूहाब को धारण करने वाले ही रूहानी गुलाब हैं।
Font Resize