daily murli 23 august

TODAY MURLI 23 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 August 2020

23/08/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
10/03/86

The way to become a carefree emperor

Today, BapDada is seeing the gathering of carefree emperors. In the entire cycle this royal gathering is unique. There have been many emperors, but it is only at this confluence age that there is a unique gathering of carefree emperors. This gathering of carefree emperors is even more elevated than a royal gathering of the golden age, because there they have no knowledge of the difference between worry (fikar) and intoxication (fakhoor) in their awareness. They do not even know the word “worry”. But now the whole world is worried about one thing or another. From the moment they wake up, they have some worry or other about themselves, their family, their business, their friends and relatives etc., whereas all of you begin the day at amrit vela by becoming carefree emperors and you carry out every task as carefree emperors. You sleep comfortably as carefree emperors. You have a peaceful and blissful sleep. You have become such carefree emperors. Has each one of you become like that – or do you still have some worries? You gave your responsibilities to the Father and so you became carefree. By considering yourself responsible, you have worries. “The responsibility is the Father’s and I am an instrument server. I am an instrument karma yogi. The Father is Karankaravanhar and I am the instrument doing it” If you have this natural awareness at every moment, you are a constantly carefree emperor. If, even by mistake, you take upon yourself the burden of any waste, then, instead of a crown, many baskets of worries come on your head. Otherwise, you are a carefree emperor and constantly wearing a crown of light. “There is just the Father and I and no third person” – this experience easily makes you into a carefree emperor. So, are you those wearing a crowns or those carrying baskets? There is such a big difference between carrying a basket and wearing a crown. Stand someone wearing a crown in front of you and stand another person carrying a basket of burdens on his head in front of you – which one would you prefer? The crown or the basket? The Father comes and relieves you of the many baskets of burdens of many births and makes you light. So, a carefree emperor means one who always remains double light. Also, until you become an emperor, your physical organs cannot remain under your control. It is only when you become an emperor that you become a conqueror of Maya, a conqueror of your physical organs and a conqueror of matter. So, you are sitting in the royal gathering, are you not? Achcha. Today, it is the turn of Europe. Europe has expanded well. Europe has made very good plans for the benefit of their neighbouring countries. Just as the Father is always benevolent, in the same way, children, like their Father, also have those benevolent feelings. Now, whenever you see anyone, you have mercy for them, do you not, that that one should also belong to the Father? Look, from the time of establishment, BapDada has been remembering all the children from abroad in one form or another, and through that remembrance of BapDada, when the time came, all the children from everywhere reached here. However, BapDada has been invoking you for a long time. Because of that invocation, all of you have been attracted, as if by a magnet, and come here. You feel, do you not, that you don’t know how you came to belong to Baba? Of course, it is good that you have come to belong to Him, but just sit and think sometimes about what happened and how it happened and how you arrived where you are and from where you came. Then, by thinking about it, you will find it amazing. It was fixed in the drama. What was fixed in the drama brought all of you from all corners and made you come to the one family. Now, because you feel that this is your family, you find it very lovely. The Father is the loveliest of all, and so all of you have also become lovely. You too are no less. All of you have also become extremely lovely by being coloured by the colour of BapDada’s company. Whoever you look at, each one is lovelier than the next. The influence of spirituality is visible on each one’s face. Foreigners like to put on make-up. So, this is the place where you put on the makeup of an angel. This make-up is such that you become angels. After putting on make-up, no matter what they were like prior to that, they appear to have changed. With make-up, they look very beautiful. So, here, too, all of you appear to be sparkling stars, because you have put on spiritual make-up. That make-up can be harmful, but there is no harm in this. So, all of you are sparkling souls, loved by all. Here, there is nothing but love. When you wake up, you say, “Good morning”, with love. When you eat, you eat Brahma bhojan with love. When you walk, you walk hand-in-hand with the Father. Foreigners like to walk hand-in-hand, do they not? So, BapDada also says: Always walk with your hand in the Father’s hand. Do not walk alone. If you walk alone, you will sometimes get bored and, sometimes, someone’s vision will fall on you. If you walk with the Father, then firstly, Maya’s vision will never be cast on you, and secondly, because of having His company, you would always eat and do everything as you move along in pleasure. So, all of you like your Companion, do you not? Or, do you want someone else? There isn’t a need for any other companion, is there? Do you sometimes need someone else to entertain your heart a little? You have become free from the relationships that deceive you. There is deception and also sorrow in those. You have now come into a relationship where there is no deception or sorrow. You have been saved from that. You have been saved from that for all time. Are all of you such strong ones? None of you are weak, are you? It isn’t that you would go back there and write a letter saying, “What can I do? How can I manage? Maya has come.” What special wonder have those from Europe performed? BapDada sees that everyone has always paid very good attention to putting into practice whatever the Father has said about bringing a bouquet here every year. You have always had that enthusiasm – and you also have it now – that every year, new children who had been separated from the Father should come to their home and to their family. So BapDada was seeing that Europe has kept this aim and brought about good expansion. So, you are called obedient children who fulfil the Father’s elevated versions and His instructions, and the children who are obedient always have the Father’s special blessings on them. Obedient children are automatically worthy of receiving blessings. Do you understand? A few years ago, there were so few but, with expansion every year, this has become the largest of all families. So, from one, there were two and from two, there were three, and now, how many centres are there? The UK is separate and large anyway, and everyone’s connection is with the UK, because that is the foundation of the foreign lands. No matter how many branches emerge and how much the tree continues to grow, its connection remains with the foundation. If there is no connection with the foundation, how can there be further growth? The especially loved jewels in London have been made instruments because that is the foundation. So, because of everyone’s connection, and through easily receiving directions, your efforts and service have both become easy. BapDada is always with you anyway. You cannot move without BapDada for even a second; you are combined to that extent. Nevertheless, in the corporeal form, in the facilities of service, in the plans and programmes for service and also in your self-progress, if anyone wants any directions, you have kept that connection. This medium has also been created through which you can easily receive a solution. Sometimes, such storms of Maya come that you are unable to catch BapDada’s directions and His power, because your intellect is not clear. For such a time, the corporeal mediums whom you call Didis and Dadis have been made instruments. They are instruments, so that your time is not wasted. However, BapDada knows that you have courage. You have emerged there and become instruments for service there, and so you have made the lesson of “Charity begins at home” firm. It is very good to get souls there to become instruments and bring about expansion. You are moving along with benevolent feelings. So, where there is determination, there is definitely success. No matter what happens, you have to achieve success in service – this elevated thought has produced for you the instant fruit today. Now, when you see your elevated family, you have special happiness. It is the Pandavas especially who are teachers. Shaktis are always helpers anyway. You always receive the instant fruit of the expansion of the service done by the Pandavas. And, more than service, the sparkle and splendour of the service centres is due to the Shaktis. The Shaktis have their own parts and the Pandavas have their own parts. Therefore, both are essential. The centres where there are just Shaktis and no Pandavas are not powerful. Therefore, both are essential. All of you have now awoken, and so through all of you, others will easily awaken. It has taken time and effort, but you are now growing very well. It is impossible for determination not to be successful. You are seeing the practical proof. If you become even a little disheartened that something will never happen there, then your slightly weak thought would make that difference in service. The water of determination bears fruit quickly. It is determination that brings success. Be obedient and claim blessings from God. To be a number one obedient child means you are a child who does what your Father tells you. To follow the orders and shrimat of the Father precisely as He gives them means to be obedient. Do not have the slightest thought of mixing any of your own dictates or the dictates of others with shrimat. The Father’s directions are: Remember Me alone! When you follow this direction as an obedient child, you receive blessings and everything becomes easy for you. BapDada has given you shrimat and orders as to how you have to think, speak, act and interact in your relationships with others from amrit vela till night time. You have also been given shrimat and orders as to what your stage needs to be whilst you perform every act. Continue to follow these directions, because these are the basis of your claiming blessings from God. Because of receiving these blessings, obedient children always remain double light and experience the flying stage. You have received BapDada’s direction: Children, do not have waste thoughts, do not look at anything wasteful, do not listen to anything wasteful, do not speak anything wasteful. Do not waste your time performing wasteful actions. You have gone beyond doing anything bad, but each of you must now become such an image of an obedient child that you claim a right to receive God’s blessings. Baba’s direction is: Children, at amrit vela, have accurate and powerful remembrance. As a karma yogi, perform every act with humility, as an instrument. Similarly, you have also received directions as to what your vision and attitude should be like. By continuing to follow these directions accurately, you will constantly experience a stage of peace filled with supersensuous joy and happiness. The Father’s direction is: Consider your body, mind, wealth and relationships to be entrusted to you by the Father. Let whatever thoughts you have be positive. Let those positive thoughts be filled with good wishes. Remain beyond the body consciousness of “I” and “mine”, because these are two doors through which Maya can enter you. Thoughts, time and breath are the invaluable treasures of Brahmin life. Therefore, save these and do not waste them. The basis of remaining powerful is to be naturally and constantly obedient. The first and foremost direction of BapDada’s is: Be pure and conquer lust. The majority of you have passed in following this direction, but half of you fail the second subject of anger. Many of you say that you don’t get angry but that you sometimes have to be a little bossy. So, this is disobedience and it prevents you from experiencing happiness. The children who do everything in their daily timetable, from morning till night, according to the directions they have been given never experience anything to be hard work. They receive the special fruit of obedience in the form of blessings, so that every act they perform is fruitful. Obedient children constantly experience contentment. They constantly and naturally experience all three types of contentment: 1) They remain content with themselves. 2) Because they do everything accurately in the right way, they remain content with whatever successful fruit they attain. 3) Everyone who has a connection or relationship with them is content with them. Because every act obedient children perform is according to the directions they have been given, those acts are elevated. So, none of their acts would cause a disturbance in their minds or intellects. They would never have to think about whether something they do is right or not. Because they do everything correctly, according to the directions they are given, and don’t do anything under any influence of their karmic bondage, they remain constantly light. Because they perform every act according to the directions they are given, they experience God’s blessings, and constantly feel will power inside them and are filled completely with supersensuous joy.

Blessing: May you take the company of the true Companion and thereby become loving and free from attachment.
Every day at amrit vela, take the happiness of having all relationships with BapDada and donate that to others. Have a right to all types of happiness and also give others this right. In any physical task, do not remember any physical companions, but first remember the Father because the Father is the true Friend. When you take the company of the true Companion, you will easily become detached and loving to all. Those who remember the one Father in all relationships in every task will easily become free from attachment. They are neither attached to anyone nor subservient to anyone and so they cannot be defeated by Maya.
Slogan: In order to see and know Maya, become trikaldarshi and trinetri and you will become victorious.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

23-08-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 10-03-86 मधुबन

बेफिकर बादशाह बनने की युक्ति

आज बापदादा बेफिकर बादशाहों की सभा देख रहे हैं। यह राज्य सभा सारे कल्प में विचित्र सभा है। बादशाह तो बहुत हुए हैं लेकिन बेफिकर बादशाह यह विचित्र सभा इस संगमयुग पर ही होती है। यह बेफिकर बादशाहों की सभा सतयुग की राज्य सभा से भी श्रेष्ठ है क्योंकि वहाँ तो फिकर और फखुर दोनों के अन्तर का ज्ञान इमर्ज नहीं रहता है। फिकर शब्द का मालूम नहीं होता। लेकिन अभी जबकि सारी दुनिया कोई न कोई फिकर में है – सवेरे से उठते अपना, परिवार का, कार्यव्यवहार का, मित्र सम्बन्धियों का कोई न कोई फिकर होगा लेकिन आप सभी अमृतवेले से बेफिकर बादशाह बन दिन आरम्भ करते और बेफिकर बादशाह बन हर कार्य करते। बेफिकर बादशाह बन आराम की नींद करते। सुख की नींद, शान्ति की नींद करते हो। ऐसे बेफिकर बादशाह बन गये। ऐसे बने हो या कोई फिकर है? बाप के ऊपर जिम्मेवारी दे दी तो बेफिकर हो गये। अपने ऊपर जिम्मेवारी समझने से फिकर होता है। जिम्मेवारी बाप की है और मैं निमित्त सेवाधारी हूँ। मैं निमित्त कर्मयोगी हूँ। करावनहार बाप है, निमित्त करनहार मैं हूँ। अगर यह स्मृति हर समय स्वत: ही रहती है तो सदा ही बेफिकर बादशाह हैं। अगर गलती से भी किसी भी व्यर्थ भाव का अपने ऊपर बोझ उठा लेते हो तो ताज के बजाए फिकर के अनेक टोकरे सिर पर आ जाते हैं। नहीं तो सदा लाइट के ताजधारी बेफिकर बादशाह हो। बस बाप और मैं तीसरा न कोई। यह अनुभूति सहज बेफिकर बादशाह बना देती है। तो ताजधारी हो या टोकरेधारी हो? टोकरा उठाना और ताज पहनना कितना फर्क हो गया। एक ताजधारी सामने खड़ा करो और एक बोझ वाला, टोकरे वाला खड़ा करो तो क्या पसन्द आयेगा! ताज या टोकरा? अनेक जन्मों के अनेक बोझ के टोकरे तो बाप आकर उतार कर हल्का बना देता। तो बेफिकर बादशाह अर्थात् सदा डबल लाइट रहने वाले। जब तक बादशाह नहीं बने हैं तब तक यह कर्मेन्द्रियाँ भी अपने वश में नहीं रह सकती हैं। राजा बनते हो तब ही मायाजीत, कर्मेन्द्रिय-जीत, प्रकृति जीत बनते हो। तो राज्य सभा में बैठे हो ना! अच्छा-

आज यूरोप का टर्न है। यूरोप ने अच्छा विस्तार किया है। यूरोप ने अपने पड़ोस के देशों के कल्याण का प्लैन अच्छा बनाया है। जैसे बाप सदा कल्याणकारी है वैसे बच्चे भी बाप समान कल्याण की भावना रखने वाले हैं। अभी किसी को भी देखेंगे तो रहम आता है ना कि यह भी बाप के बन जाएं। देखो बापदादा स्थापना के समय से लेकर विदेश के सभी बच्चों को किसी न किसी रूप से याद करते रहे हैं। और बापदादा की याद से समय आने पर चारों ओर के बच्चे पहुँच गये हैं। लेकिन बापदादा ने आह्वान बहुत समय से किया है। आह्वान के कारण आप लोग भी चुम्बक की तरह आकर्षित हो पहुँच गये हो। ऐसे लगता है ना कि नामालूम कैसे हम बाप के बन गये। बन गये यह तो अच्छा लगता ही है, लेकिन क्या हो गया, कैसे हो गया यह कभी बैठकर सोचो, कहाँ से कहाँ आकर पहुँच गये हो, तो सोचने से विचित्र भी लगता है ना! ड्रामा में नूधँ नूँधी हुई थी। ड्रामा की नूँध ने सभी को कोने-कोने से निकालकर एक परिवार में पहुँचा दिया। अभी यही परिवार अपना लगने के कारण अति प्यारा लगता है। बाप प्यारे ते प्यारा है तो आप सभी भी प्यारे बन गये हो। आप भी कम नहीं हो। आप सभी भी बापदादा के संग के रंग में अति प्यारे बन गये हो। किसी को भी देखो तो हर एक एक-दो से प्यारा लगता है। हर एक के चेहरे पर रूहानियत का प्रभाव दिखाई देता है। फारेनर्स को मेकप करना अच्छा लगता है! तो यह फरिश्तेपन का मेकप करने का स्थान है। यह मेकप ऐसा है जो फरिश्ता बन जाते हैं। जैसे मेकप के बाद कोई कैसा भी हो लेकिन बदल जाता है ना। मेकप से बहुत सुन्दर लगता है। तो यहाँ भी सभी चमकते हुए फरिश्ते लगते हो क्योंकि रूहानी मेकप कर लिया है। उस मेकप में तो नुकसान भी होता है। इसमें कोई नुकसान नहीं। तो सभी चमकते हुए सर्व के स्नेही आत्मायें हो ना! यहाँ स्नेह के बिना और कुछ है ही नहीं। उठो तो भी स्नेह से गुडमॉर्निगं करते, खाते हो तो भी स्नेह से ब्रह्मा भोजन खाते हो। चलते हो तो भी स्नेह से बाप के साथ हाथ मे हाथ मिलाकर चलते हो। फारेनर्स को हाथ में हाथ मिलाकर चलना अच्छा लगता है ना! तो बापदादा भी कहते हैं कि सदा बाप को हाथ में हाथ दे फिर चलो। अकेले नहीं चलो। अकेले चलेंगे तो कभी बोर हो जायेंगे और कभी किसकी नज़र भी पड़ जायेगी। बाप के साथ चलेंगे तो एक तो कभी भी माया की नज़र नहीं पड़ेगी और दूसरा साथ होने के कारण सदा ही खुशी-खुशी से मौज से खाते चलते मौज मनाते जायेंगे। तो साथी सबको पसन्द है ना! या और कोई चाहिए! और कोई कम्पेनियन की जरूरत तो नहीं है ना! कभी थोड़ा दिल बहलाने के लिए कोई और चाहिए? धोखा देने वाले सम्बन्ध से छूट गये। उसमें धोखा भी है और दु:ख भी है। अभी ऐसे सम्बन्ध में आ गये जहाँ न धोखा है, न दु:ख है। बच गये। सदा के लिए बच गये। ऐसे पक्के हो? कोई कच्चे तो नहीं? ऐसे तो नहीं वहाँ जाकर पत्र लिखेंगे कि क्या करें, कैसे करें, माया आ गई।

यूरोप वालों ने विशेष कौन-सी कमाल की है? बापदादा सदा देखते रहे हैं कि बाप जो कहते हैं कि हर वर्ष बाप के आगे गुलदस्ता ले करके आना, वह बाप के बोल प्रैक्टिकल में लाने का सभी ने अच्छा अटेन्शन रखा है। यह उमंग सदा ही रहा है और अभी भी है कि हर वर्ष नये-नये बिछुड़े हुए बाप के बच्चे अपने घर में पहुँचे, अपने परिवार में पहुँचे। तो बापदादा देख रहे हैं कि यूरोप ने भी यह लक्ष्य रख करके वृद्धि अच्छी की है। तो बाप के महावाक्यों को, आज्ञा को पालन करने वाले आज्ञाकारी कहलाये जाते हैं और जो आज्ञाकारी बच्चे होते हैं उन्हों पर विशेष बाप की आशीर्वाद सदा ही रहती है। आज्ञाकारी बच्चे स्वत: ही आशीर्वाद के पात्र आत्मायें होते हैं। समझा! कुछ वर्ष पहले कितने थोड़े थे लेकिन हर साल वृद्धि को प्राप्त करते बड़े ते बड़ा परिवार बन गया। तो एक से दो, दो से तीन अभी कितने सेन्टर हो गये। यू. के. तो अलग बड़ा है ही, कनेक्शन तो सबका यू. के. से है ही क्योंकि विदेश का फाउण्डेशन तो वही है। कितनी भी शाखायें निकल जाएं, झाड़ विस्तार को प्राप्त करता रहे लेकिन कनेक्शन तो फाउण्डेशन से होता ही है। अगर फाउण्डेशन से कनेक्शन नहीं रहे तो फिर विस्तार वृद्धि को कैसे प्राप्त करें। लण्डन में विशेष अनन्य रत्न को निमित्त बनाया क्योंकि फाउण्डेशन है ना। तो सभी का कनेक्शन डायरेक्शन सहज मिलने से पुरुषार्थ और सेवा दोनों में सहज हो जाता है। बापदादा तो है ही। बापदादा के बिना तो एक सेकण्ड भी नहीं चल सकते हो, ऐसा कम्बाइन्ड है। फिर भी साकार रूप में, सेवा के साधनों में, सेवा के प्रोग्राम्स प्लैन्स में और साथ-साथ अपनी स्व-उन्नति के लिए भी किसी को भी कोई भी डायरेक्शन चाहिए तो कनेक्शन रखा हुआ है। यह भी निमित्त बनाये हुए माध्यम है, जिससे सहज ही हल मिल सकें। कई बार ऐसे माया के तूफान आते हैं जो बुद्धि क्लीयर न होने के कारण बापदादा के डायरेक्शन को, शक्ति को कैच नहीं कर सकते हैं। ऐसे टाइम के लिए फिर साकार माध्यम निमित्त बनाये हुए हैं। जिसको आप लोग कहते हो दीदियाँ, दादियाँ, यह निमित्त हैं, जिससे टाइम वेस्ट न जाये। बाकी बापदादा जानते हैं कि हिम्मत वाले हैं। वहाँ से ही निकलकर और वहाँ ही सेवा के निमित्त बन गये हैं तो चैरिटी बिगन्स एट होम का पाठ अच्छा पक्का किया है, वहाँ के ही निमित्त बन वृद्धि को प्राप्त कराना यह बहुत अच्छा है। कल्याण की भावना से आगे बढ़ रहे हो। तो जहाँ दृढ़ संकल्प है वहाँ सफलता है ही। कुछ भी हो जाए लेकिन सेवा में सफलता पानी ही है – इस श्रेष्ठ संकल्प ने आज प्रत्यक्ष फल दिया है। अभी अपने श्रेष्ठ परिवार को देख विशेष खुशी होती है और विशेष पाण्डव ही टीचर हैं। शक्तियाँ सदा मददगार तो हैं ही। पाण्डवों से सदा सेवा की विशेष वृद्धि का प्रत्यक्षफल मिलता है। और सेवा से भी ज्यादा सेवाकेन्द्र की रिमझिम, सेवाकेन्द्र की रौनक शक्तियों से होती है। शक्तियों का अपना पार्ट है, पाण्डवों का अपना पार्ट है इसलिए दोनों आवश्यक हैं। जिस सेन्टर पर सिर्फ शक्तियाँ होती और पाण्डव नहीं हैं तो पावरफुल नहीं होते इसलिए दोनों ही जरूरी हैं। अभी आप लोग जगे हो तो एक दो से सहज ही अनेक जगते जायेंगे। मेहनत और टाइम तो लगा लेकिन अभी अच्छी वृद्धि को पा रहे हो। दृढ़ संकल्प कभी सफल न हो, यह हो नहीं सकता। यह प्रैक्टिकल प्रूफ देख रहे हैं। अगर थोड़ा भी दिल-शिकस्त हो जाते कि यहाँ तो होना ही नहीं है। तो अपना थोड़ा सा कमजोर संकल्प सेवा में भी फर्क ले आता है। दृढ़ता का पानी फल जल्दी निकालता है। दृढ़ता ही सफलता लाती है।

“परमात्म दुआयें लेनी है तो आज्ञाकारी बनो” (अव्यक्त मुरलियों से)

जैसे बाप ने कहा ऐसे किया, बाप का कहना और बच्चों का करना – इसको कहते हैं नम्बरवन आज्ञाकारी। बाप के हर डॉयरेक्शन को, श्रीमत को यथार्थ समझकर पालन करना – इसको कहते हैं आज्ञाकारी बनना। श्रीमत में संकल्प मात्र भी मनमत वा परमत मिक्स न हो। बाप की आज्ञा है ‘मुझ एक को याद करो’। अगर इस आज्ञा को पालन करते हैं तो आज्ञाकारी बच्चे को बाप की दुआयें मिलती हैं और सब सहज हो जाता है।

बापदादा ने अमृतवेले से लेकर रात के सोने तक मन्सा-वाचा-कर्मणा और सम्बंध-सम्पर्क में कैसे चलना है वा रहना है – सबके लिए श्रीमत अर्थात् आज्ञा दी हुई है। हर कर्म में मन्सा की स्थिति कैसी हो उसका भी डायरेक्शन वा आज्ञा मिली हुई है। उसी आज्ञा प्रमाण चलते चलो। यही परमात्म दुआयें प्राप्त करने का आधार है। इन्हीं दुआओं के कारण आज्ञाकारी बच्चे सदा डबल लाइट, उड़ती कला का अनुभव करते हैं। बापदादा की आज्ञा है – किसी भी आत्मा को न दु:ख दो, न दु:ख लो। तो कई बच्चे दु:ख देते नहीं हैं, लेकिन ले लेते हैं। यह भी व्यर्थ संकल्प चलने का कारण बन जाता है। कोई व्यर्थ बात सुनकर दु:खी हो गये, ऐसी छोटी-छोटी अवज्ञायें भी मन को भारी बना देती हैं और भारी होने के कारण ऊंची स्थिति की तरफ उड़ नहीं सकते।

बापदादा की आज्ञा मिली हुई है – बच्चे न व्यर्थ सोचो, न देखो, न व्यर्थ सुनो, न व्यर्थ बोलो, न व्यर्थ कर्म में समय गंवाओ। आप बुराई से तो पार हो गये। अब ऐसे आज्ञाकारी चरित्र का चित्र बनाओ तो परमात्म दुआओं के अधिकारी बन जायेंगे। बाप की आज्ञा है बच्चे अमृतवेले विधिपूर्वक शक्तिशाली याद में रहो, हर कर्म कर्मयोगी बनकर, निमित्त भाव से, निर्मान बनकर करो। ऐसे दृष्टि-वृत्ति सबके लिए आज्ञा मिली हुई है। यदि उन आज्ञाओं का विधिपूर्वक पालन करते चलो तो सदा अतीन्द्रिय सुख वा खुशी सम्पन्न शान्त स्थिति अनुभव करते रहेंगे।

बाप की आज्ञा है बच्चे तन-मन-धन और जन – इन सबको बाप की अमानत समझो। जो भी संकल्प करते हो वह पॉजिटिव हो, पॉजिटिव सोचो, शुभ भावना के संकल्प करो। बॉडीकान्सेस के “मैं और मेरेपन से” दूर रहो, यही दो माया के दरवाजे हैं। संकल्प, समय और श्वांस ब्राह्मण जीवन के अमूल्य खजाने हैं, इन्हें व्यर्थ नहीं गंवाओ। जमा करो। समर्थ रहने का आधार है – सदा और स्वत: आज्ञाकारी बनना। बापदादा की मुख्य पहली आज्ञा है – पवित्र बनो, कामजीत बनो। इस आज्ञा को पालन करने में मैजारिटी पास हो जाते हैं। लेकिन उनका दूसरा भाई क्रोध – उसमें कभी-कभी आधा फेल हो जाते हैं। कई कहते हैं – क्रोध नहीं किया लेकिन थोड़ा रोब तो दिखाना ही पड़ता है, तो यह भी अवज्ञा हुई, जो खुशी का अनुभव करने नहीं देगी।

जो बच्चे अमृतवेले से रात तक सारे दिन की दिनचर्या के हर कर्म में आज्ञा प्रमाण चलते हैं वे कभी मेहनत का अनुभव नहीं करते। उन्हें आज्ञाकारी बनने का विशेष फल बाप के आशीर्वाद की अनुभूति होती है, उनका हर कर्म फलदाई हो जाता है। जो आज्ञाकारी बच्चे हैं वे सदा सन्तुष्टता का अनुभव करते हैं। उन्हें तीनों ही प्रकार की सन्तुष्टता स्वत: और सदा अनुभव होती है। 1- वे स्वयं भी सन्तुष्ट रहते। 2- विधि पूर्वक कर्म करने के कारण सफलता रूपी फल की प्राप्ति से भी सन्तुष्ट रहते। 3- सम्बन्ध-सम्पर्क में भी उनसे सभी सन्तुष्ट रहते हैं। आज्ञाकारी बच्चों का हर कर्म आज्ञा प्रमाण होने के कारण श्रेष्ठ होता है इसलिए कोई भी कर्म बुद्धि वा मन को विचलित नहीं करता, ठीक किया वा नहीं किया। यह संकल्प भी नहीं आ सकता। वे आज्ञा प्रमाण चलने के कारण सदा हल्के रहते हैं क्योंकि वे कर्म के बन्धन वश कोई कर्म नहीं करते। हर कर्म आज्ञा प्रमाण करने के कारण परमात्म आशीर्वाद की प्राप्ति के फल स्वरूप वे सदा ही आन्तरिक विल पावर का, अतीन्द्रिय सुख का और भरपूरता का अनुभव करते हैं। अच्छा।

वरदान:- सच्चे साथी का साथ लेने वाले सर्व से न्यारे, प्यारे निर्मोही भव
रोज़ अमृतवेले सर्व सम्बन्धों का सुख बापदादा से लेकर औरों को दान करो। सर्व सुखों के अधिकारी बन औरों को भी बनाओ। कोई भी काम है उसमें साकार साथी याद न आये, पहले बाप की याद आये क्योंकि सच्चा मित्र बाप है। सच्चे साथी का साथ लेंगे तो सहज ही सर्व से न्यारे और प्यारे बन जायेंगे। जो सर्व सम्बन्धों से हर कार्य में एक बाप को याद करते हैं वह सहज ही निर्मोही बन जाते हैं। उनका किसी भी तरफ लगाव अर्थात् झुकाव नहीं रहता इसलिए माया से हार भी नहीं हो सकती है।
स्लोगन:- माया को देखने वा जानने के लिए त्रिकालदर्शी और त्रिनेत्री बनो तब विजयी बनेंगे।

TODAY MURLI 23 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 22 August 2019:- Click Here

23/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you accumulate an income on the pilgrimage of remembrance. From being in debt you go into credit and become the masters of the world.
Question: What is the meaning of, “The company of the Truth takes your boat across and the company of falsehood sinks your boat”?
Answer: When you children receive the company of the Truth, that is, the Father’s company, your stage ascends. The company of Ravan is bad company. When you take the company of Ravan, you fall, that is, he sinks your boat, whereas the Father takes you across. It is the wonder of the Father that, by giving you His company, you experience liberation and liberation-in-life in a second. This is why He is also called the Magician.

Om shanti. You children were sitting in remembrance. This is called the pilgrimage of remembrance. The Father says: Do not use the word “yoga”. Remember the Father; He is the Father of souls, the Supreme Father and the Purifier. You only have to remember that Purifier. The Father says: Renounce all your bodily relations and remember the one Father. It is said that when you die, the world is dead for you. Do not remember your bodily relations etc. or the bodies you see. Only remember the one Father and your sins will be burnt away. You have been sinful souls for many births. This is the world of sinful souls. The golden age is the world of charitable souls. How can you now cut away all your sins and accumulate charity? Only by having remembrance of the Father will that be accumulated. The mind and the intellect are in the soul. Therefore, you souls have to remember Baba with your intellects. The Father says: Forget everyone else, all your friends and relatives. They all cause each other sorrow. The first sin they commit is that they use the sword of lust. What is the second sin they commit? They call omnipresent the Father who grants everyone salvation, the One who gives you children unlimited happiness, that is, the One who makes you into the masters of heaven. This is a school and you have come here in order to study. Lakshmi and Narayan are your aim and objective. No one else can say this. You know that you now have to become pure and become the masters of the pure world. It was exactly 5000 years ago when we became the masters of the world. The deities were the masters of the world. It is such a high status! Surely, it was the Father who made you become like that. The Father is called the Supreme Soul. His original name is Shiva. Later, they give Him many names. For example, there is a temple in Bombay to the Lord of Thorns (Babulnath Temple), that is, He is the One who changes the forest of thorns into the garden of flowers. In fact, He only has one real name – Shiva. Even when He enters this one, His name is still Shiva. You must not remember this Brahma; he is a bodily being. You have to remember the bodiless One. You souls have become impure; you have to be purified. It is said: “great soul” and “sinful soul”. “Great Supreme Soul” is never said. No one else can call himself the Supreme Soul or Ishwar (God). It is said that a great soul is a pure soul. Sannyasis renounce everything. This is why they are called pure souls. The Father has explained that they too take rebirth. Bodily beings definitely have to take rebirth. They take birth through vice and then, when they grow older, they take up renunciation. Deities do not do that. They are everpure. The Father is now changing you from devils into deities. It is by imbibing divine virtues that you will become those who belong to the deity community. The deity community live in the golden age whereas the devilish community live in the iron age. It is now the confluence age. You have now found the Father. He says: You definitely now have to belong to the deity community once again. You have come here in order to belong to the deity community. Those of the deity community have limitless happiness. This world is called violent. Deities are non-violent. The Father says: Sweetest, spiritual children, remember the Father! All of your gurus are also bodily beings. You souls now have to remember the Father, the Supreme Soul. You will receive happiness when you become charitable souls. You become sinful souls while taking 84 births. You are now accumulating charity. You finish off your sins with the power of yoga. It is by going on this pilgrimage of remembrance that you become the masters of the world. You certainly were the masters of the world. Where did you go then? The Father tells you this as well. You took 84 births and became part of the sun dynasty and then the moon dynasty. It is said that God gives the fruit of devotion. No bodily being can be called God; He is incorporeal Shiva. People celebrate the birth of Shiva and so He must surely have come. However, He says: I do not take birth in the way that you do. I have to take a body on loan. I do not have a body of My own. If I did, it would have a name. The name Brahma belongs to this one. It was when this one took up renunciation that he was given the name “Brahma”. You are Brahma Kumars and Kumaris. Otherwise, where did Brahma come from? Brahma is the son of Shiva. Shiv Baba enters His son Brahma and gives you knowledge. Brahma, Vishnu and Shankar are His children. All the children of the incorporeal Father are also incorporeal. Souls come down and adopt bodies to play their parts. The Father says: I come in order to purify the impure. I take this body on loan. It is God Shiva who speaks. Krishna cannot be called God. There is only one God. The praise of Krishna is totally separate. The first number deities are Radhe and Krishna and, after their marriage, they then become Lakshmi and Narayan. However, no one knows this. No one knows about Radhe and Krishna or where they go. Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan after their marriage. Each is a child of a separate emperor. There is no trace of impurity there because Ravan, in the form of vice, does not exist there. It is the kingdom of Rama (God). Now, the Father says to you souls: Remember Me and your sins will be cut away. You were satopradhan and you have now become tamopradhan. You have gone into loss and so you now have to accumulate. God is also called the Businessman. Very few are able to do business with Him. He is also called the Magician. The wonder He performs is that He grants salvation to the whole world. He grants everyone liberation and liberation-in-life. This is a magic act. Human beings cannot grant salvation to human beings. You have been doing devotion for 63 births. Did anyone receive salvation by doing devotion? Was there anyone who could grant salvation? It was not possible. Not a single one was able to return home. Only the unlimited Father comes and takes everyone back home. There are many kings in the iron age. Very few of you rule there. All the rest of the souls go into liberation whereas you go into liberation-in-life via the land of liberation. The cycle continues to turn. You souls have now been shown the cycle of the world, the Creator and the beginning, middle and end of creation. It is you who become Narayan from ordinary human beings through this knowledge. Once the kingdom of deities has been established, there will be no need for this knowledge. God gives you devotees the fruit of your devotion which is happiness for half a cycle. Then, sorrow begins in the kingdom of Ravan. You gradually continue to come down the ladder. When you are in the golden age, you have to come down the ladder with each day that passes. You become 16 celestial degrees full and then continue to come down the ladder. As each second ticks away you continue to come down. Time continues to pass and this is where you have reached! There, too, time will continue to pass in the same way. We climb up the ladder instantly. Then we climb down the ladder as slowly as a louse. The Father says: I am the One who grants salvation to everyone. Human beings cannot grant salvation to human beings because they are born through vice and are therefore impure. In fact, only Krishna can be called a true mahatma (great soul). Those mahatmas here take birth through vice and then take up renunciation, whereas, there, they are deities and deities are always pure; they don’t have any vices in them. That world is called the viceless world, whereas this world is called the vicious world where there is no purity. Their behaviour is very bad. The behaviour of the deities is very good. Everyone says namaste to them. Their character is very good, which is why impure human beings bow their heads in front of the pure deity idols. There is now so much fighting and quarrelling. There is a great deal of chaos. There is not even enough space for people to live now. They want to reduce the population but that task belongs to the Father alone. There are very few human beings in the golden age. All the bodies will be burnt and all the souls will return to their sweet home. Everyone definitely experiences punishment, numberwise. Those who make full effort and become beads of the rosary of victory are liberated from punishment. The rosary is not only of one. The One who made them like that is represented by the Flower (Tassel). Then there is the dual-bead which represents the household path. The rosary is of couples; there is no rosary of singles. There is no rosary of sannyasis; they belong to the path of isolation. They cannot give knowledge to those on the household path. Their renunciation for becoming pure is limited. They are hatha yogis whereas this is Raja Yoga. The Father is teaching you Raja Yoga to enable you to claim a kingdom. The Father comes every 5000 years. You rule in happiness for half a cycle and then you gradually become unhappy in the kingdom of Ravan. This is called a play of happiness and sorrow. You Pandavas are made victorious. You are now guides. You lead others on the pilgrimage of returning home. Human beings have been going on those pilgrimages for birth after birth. Your pilgrimage is now that of returning home. The Father comes and shows everyone the path to liberation and liberation-in-life. You will go into liberation-in-life and all the rest will go into liberation. After the cries of distress, there will be the cries of victory. It is now the end of the iron age. Many calamities are to come. At that time you will not be able to stay on the pilgrimage of remembrance because there will be a great deal of chaos. Therefore, the Father says: Continue to increase your pilgrimage of remembrance now so that your sins can be burnt away and you can accumulate for yourself. At least become satopradhan! The Father says: I come at the auspicious confluence age of every cycle. This is the very small age of Brahmins. The topknot is the symbol of you Brahmins. You become Brahmins, deities, warriors, merchants and then shudras. This cycle continues to turn. The clan of you Brahmins is very small. The Father comes during this short age to teach you. You are His children and His students as well as His followers. You all belong to One. There is no human being who could be the Father or the Teacherwho gives you teachings, gives you the knowledge of the beginning, middle and end of the world, or the One who takes you back with Him. There cannot be such a human being. You now understand these aspects. Initially, in the golden age, the tree is very small. Everyone else will have gone to the land of peace. The Father is called the Bestower of Salvation for All. They call out to the Father: O Purifier Baba, come! On the other hand, they say that God is in pebbles and stones and in cats and dogs. They insult the unlimited Father. They defame the Father, the One who makes them into the masters of the world. This is called being influenced by the bad company of Ravan. The company of the Truth takes your boat across and the company of falsehood makes your boat sink. You begin to fall when the kingdom of Ravan begins. The Father comes and makes your stage ascend. The Father comes and changes you from human beings into deities. Therefore, there is benefit for everyone in this. Almost everyone is now here and all of those who still remain up there will continue to come down. Until all the souls who are still in the incorporeal world have come down, you will continue to pass your examination, numberwise. This is called a spiritual college. The spiritual Father comes to teach you spiritual children. Then, when the kingdom of Ravan comes, you shed your bodies and become impure kings and begin to bow your heads in front of the pure deity idols. It is souls that become pure and impure. When souls are impure, they receive impure bodies. When alloy is mixed into pure gold, the ornament made from that also has alloy. Now, how can alloy be removed from souls? The fire of yoga is needed through which your sins can be absolved. The alloys of silver, copper and iron have been mixed into souls. Souls were real gold; they have now become artificial. How can that alloy be removed? This is the fire of yoga. You are sitting on the pyre of yoga. Previously, you were sitting on the pyre of lust. The Father seats you on the pyre of knowledge. No one, other than the Father, the Ocean of Knowledge, can seat you on the pyre of knowledge. Human beings continue to perform a great deal of worship on the path of devotion, but they don’t know any of those they worship. You have now come to know them. When you all become deities, every aspect of worshipping ends. The path of devotion begins when the kingdom of Ravan begins. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be freed from punishment, make effort to become a bead of the rosary of victory. Become a spiritual guide and lead everyone on the pilgrimage to the land of peace, to the home.
  2. Become free from all sin by gradually increasing your pilgrimage of remembrance. Make the soul real gold with the fire of yoga and become satopradhan.
Blessing: May you be greatly fortunate and an become embodiment of remembrance by having different relationships with the Father in every act.
In every act throughout the day, sometimes think of God in the form of the Friend, sometimes, the Life Companion and sometimes, the specially beloved Child. Sometimes, when you are disheartened, then, as a master almighty authority, remember the Almighty Authority and your heart will become happy and you will automatically experience the Father’s company. You will then constantly continue to experience this Brahmin life to be invaluable and yourself to be greatly fortunate.
Slogan: To become equal to Father Brahma means to reach your destination of perfection.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 August 2019

To Read Murli 22 August 2019:- Click Here
23-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद की यात्रा से ही तुम्हारी कमाई जमा होती है, तुम घाटे से फायदे में आते हो, विश्व के मालिक बनते हो”
प्रश्नः- सत का संग तारे कुसंग बोरे – इसका अर्थ क्या है?
उत्तर:- जब तुम बच्चों को सत का संग अर्थात् बाप का संग मिलता है तब तुम्हारी चढ़ती कला हो जाती है। रावण का संग कुसंग है, उसके संग से तुम नीचे गिरते हो अर्थात् रावण तुम्हें डुबोता है, बाप पार ले जाता है। बाप की भी कमाल है जो सेकण्ड में ऐसा संग देते जिससे तुम्हारी गति सद्गति हो जाती है, इसलिए उसे जादूगर भी कहा जाता है।

ओम् शान्ति। बच्चे याद में बैठे थे इसको कहा जाता है याद की यात्रा। बाप कहते हैं योग अक्षर काम में न लाओ। बाप को याद करो, वह है आत्माओं का बाप, परमपिता, पतित-पावन। उस पतित-पावन को ही याद करना है। बाप कहते हैं देह के सब सम्बन्ध छोड़ एक बाप को याद करो। कहते हैं ना आप मुये मर गई दुनिया…… देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध आदि देखने में आते हैं, उनको याद नहीं करो। एक बाप को ही याद करो तो तुम्हारे पाप जल जायेंगे। तुम जन्म-जन्मान्तर की पाप आत्मायें हो ना। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। सतयुग है पुण्य आत्माओं की दुनिया। अब पाप सब कटकर पुण्य कैसे जमा हो? बाप की याद से ही जमा होंगे। आत्मा में मन-बुद्धि है ना। तो आत्मा को बुद्धि से याद करना है। बाप कहते हैं तुम्हारे जो भी मित्र-सम्बन्धी हैं, उन सबको भूलो। वह सब एक-दो को दु:ख देते हैं। एक पाप करते हैं जो काम कटारी चलाते हैं, दूसरा पाप फिर क्या करते हैं? जो बाप सर्व का सद्गति दाता है, बच्चों को बेहद का सुख देते हैं अर्थात् स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, उसे सर्वव्यापी कह देते हैं। यह पाठशाला है, तुम आये हो यह पढ़ने। यह लक्ष्मी-नारायण है तुम्हारी एम-ऑब्जेक्ट। और कोई ऐसे कह न सके। तुम जानते हो अभी हमको पवित्र बन पवित्र दुनिया का मालिक बनना है। हम ही विश्व के मालिक थे। पूरे 5 हज़ार वर्ष हुए। देवी-देवता विश्व के मालिक हैं ना। कितना ऊंच पद है। जरूर यह बाप ही बनायेंगे। बाप को ही परमात्मा कहते हैं, उनका असुल नाम है शिव। फिर बहुत नाम रख दिये हैं। जैसे बाम्बे में बबुलनाथ का मन्दिर है अर्थात् कांटों के जंगल को फूलों का बगीचा बनाने वाला है। नहीं तो उनका असली नाम एक ही शिव है, इनमें प्रवेश करते हैं तो भी नाम शिव ही है। तुमको इन ब्रह्मा को याद नहीं करना है। यह तो देहधारी है। तुमको याद करना है विदेही को। तुम्हारी आत्मा पतित बनी है, उनको पावन बनाना है। कहते भी हैं महान् आत्मा, पाप आत्मा। महान् परमात्मा नहीं कहते हैं। अपने को परमात्मा वा ईश्वर भी कोई कह न सकें। कहते भी हैं महात्मा, पवित्र आत्मा। सन्यासी सन्यास करते हैं, इसलिए पवित्र आत्मा हैं। बाप ने समझाया है वह भी सभी पुनर्जन्म लेते हैं। देहधारियों को पुनर्जन्म जरूर लेना पड़ता है। विकार से जन्म ले फिर जब बड़े बालिग बन जाते हैं तो सन्यास कर लेते हैं। देवतायें तो ऐसे नहीं करते। वह तो एवर पवित्र हैं। बाप अभी तुमको आसुरी से दैवी बनाते हैं, दैवीगुण धारण करने से दैवी सम्प्रदाय बनेंगे। दैवी सम्प्रदाय रहते हैं सतयुग में, आसुरी सम्प्रदाय रहते हैं कलियुग में। अभी है संगमयुग। अब तुमको बाप मिला है, कहते हैं अब तुमको फिर दैवी सम्प्रदाय बनना है जरूर। तुम यहाँ आये ही हो दैवी सम्प्रदाय बनने। दैवी सम्प्रदाय वालों को अथाह सुख हैं। इस दुनिया को कहा जाता है हिंसक, देवतायें हैं अहिंसक।

बाप कहते हैं – मीठे-मीठे रूहानी बच्चों, बाप को याद करो। तुम्हारे जो गुरू लोग हैं, वह भी सब देहधारी हैं। अभी तुम आत्माओं को परमात्मा बाप को याद करना है। सुख तब मिलेगा जब तुम पुण्य आत्मा बनेंगे। 84 जन्मों के बाद ही तुम पाप आत्मा बन जाते हो। अभी तुम पुण्य जमा करते हो। योगबल से पापों को खत्म करते हो। इस याद की यात्रा से ही तुम विश्व के मालिक बनते हो। तुम विश्व के मालिक थे तो सही ना। वह फिर कहाँ गये, यह भी बाप ही बताते हैं। तुमने 84 जन्म लिए, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनें। कहते भी हैं भक्ति का फल भगवान देते हैं। भगवान कोई देहधारी को नहीं कहा जाता है। वह है ही निराकार शिव। उनकी शिवरात्रि मनाते हैं तो जरूर आते हैं ना। परन्तु कहते मैं तुम्हारे सदृश्य जन्म नहीं लेता हूँ, मुझे शरीर का लोन लेना पड़ता है। मुझे अपना शरीर नहीं है। अगर होता तो उनका नाम होता। ब्रह्मा नाम तो इनका अपना है। इसने सन्यास किया तब नाम ब्रह्मा रखा है। तुम हो ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। नहीं तो ब्रह्मा कहाँ से आया। ब्रह्मा है शिव का बेटा। शिवबाबा अपने बच्चे ब्रह्मा में प्रवेश कर तुमको ज्ञान देते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी इनके बच्चे हैं। निराकार बाप के सब बच्चे निराकार हैं। आत्मायें यहाँ आकर शरीर धारण कर पार्ट बजाती हैं। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ पतितों का पावन बनाने। मैं इस शरीर का लोन लेता हूँ। शिव भगवानुवाच है ना। कृष्ण को तो भगवान नहीं कह सकते। भगवान तो एक ही है। कृष्ण की महिमा ही अलग है। पहला नम्बर देवता हैं राधे-कृष्ण, जो स्वयंवर के बाद फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। परन्तु यह कोई जानते नहीं। राधे-कृष्ण का किसको भी पता नहीं है। वह फिर कहाँ चले जाते हैं? राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। दोनों अलग-अलग महाराजाओं के बच्चे हैं। वहाँ अपवित्रता का नाम नहीं है क्योंकि 5 विकार रूपी रावण ही नहीं है। है ही राम राज्य। अब बाप आत्माओं को कहते हैं कि मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायेंगे। तुम सतोप्रधान थे, अब तमोप्रधान बने हो, घाटा पड़ा है फिर जमा करना है। भगवान् को व्यापारी भी कहा जाता है। कोई विरला उनसे व्यापार करे। जादूगर भी उनको कहते हैं, कमाल करते हैं, जो सारी दुनिया की सद्गति करते हैं। सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। जादू का खेल है ना। मनुष्य, मनुष्य को दे नहीं सकते। तुम 63 जन्म भक्ति करते आये हो, इस भक्ति से कोई ने सद्गति को पाया है? कोई है जो सद्गति दे? हो नहीं सकता। एक भी वापिस जा नहीं सकता। बेहद का बाप ही आकर सबको वापिस ले जाते हैं। कलियुग में अनेक राजायें हैं। वहाँ तुम थोड़े राज्य करते हो। बाकी सब आत्मायें मुक्ति में चली जाती हैं। तुम जाते हो जीवनमुक्ति में वाया मुक्तिधाम। यह चक्र फिरता रहता है। अभी तुम आत्माओं को दर्शन हुआ है इस सृष्टि चक्र का, रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का। तुम ही इस ज्ञान से नर से नारायण बनते हो। देवताओं की राजधानी स्थापन हो गई फिर तुमको ज्ञान की दरकार नहीं रहेगी। भक्तों को भगवान ने फल दिया आधाकल्प सुख का, फिर रावण राज्य में दु:ख शुरू होता है। आहिस्ते-आहिस्ते सीढ़ी उतरते हैं। तुम सतयुग में हो तो भी एक दिन जो बीता, सीढ़ी उतरनी होती है। तुम 16 कला सम्पूर्ण बनते हो, फिर सीढ़ी उतरते ही रहते हो। सेकण्ड बाई सेकण्ड टिक-टिक होती है। उतरते ही जाते हैं। समय बीतते-बीतते इस जगह आकर पहुँचे हो। वहाँ भी तो ऐसे ही घड़ियाँ बीतती जायेंगी। हम सीढ़ी चढ़ते हैं एकदम फट से। फिर सीढ़ी उतरनी है जूँ मिसल।

बाप कहते हैं मैं सर्व की सद्गति करने वाला हूँ। मनुष्य, मनुष्य की सद्गति कर न सकें क्योंकि वह विकार से पैदा होते हैं, पतित हैं। वास्तव में कृष्ण को ही सच्चा महात्मा कह सकते हैं। यह महात्मा लोग तो फिर भी विकार से जन्म ले फिर सन्यास करते हैं। वह तो हैं देवता। देवतायें तो सदैव पवित्र हैं। उनमें कोई विकार होता नहीं। उनको कहा ही जाता है निर्विकारी दुनिया, इनको कहा जाता है विकारी दुनिया। नो प्योरिटी। चलन कितनी खराब है। देवताओं की चलन तो बड़ी अच्छी होती है। सब उनको नमस्ते करते हैं। कैरेक्टर्स उन्हों के अच्छे हैं तब तो अपवित्र मनुष्य उन पवित्र देवताओं के आगे माथा टेकते हैं। अभी तो लड़ना-झगड़ना क्या-क्या लगा पड़ा है। बड़ा हंगामा है। अभी तो रहने की भी जगह नहीं। चाहते हैं मनुष्य कम हों। परन्तु यह तो बाप का ही काम है। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। इतने सब शरीरों की होलिका हो जाती है, बाकी सब आत्मायें चली जाती हैं अपने स्वीट होम। सजायें तो नम्बरवार भोगते हैं जरूर। जो पूरा पुरूषार्थ कर विजय माला का दाना बनते हैं, वह सजाओं से छूट जाते हैं। माला एक की तो नहीं होती। जिसने उन्हों को ऐसा बनाया, वह है फूल। फिर है मेरू, प्रवृत्ति मार्ग है ना। तो जोड़ी की माला है। सिंगल की माला नहीं होती। सन्यासियों की माला होती नहीं। वह हैं निवृति मार्ग वाले। वह प्रवृत्ति मार्ग वालों को ज्ञान दे न सकें। पवित्र बनने के लिए उनका है हद का सन्यास, वह हैं हठयोगी। यह है राजयोग, राजाई प्राप्त करने के लिए बाप तुमको यह राजयोग सिखलाते हैं। बाप हर 5 हजार वर्ष बाद आते हैं। आधाकल्प तुम राजाई करते हो सुख में, फिर रावण राज्य में आहिस्ते-आहिस्ते तुम दु:खी हो जाते हो। इसको कहा जाता है सुख-दु:ख का खेल। तुम पाण्डवों को जीत पहनाते हैं। अब तुम हो पण्डे। घर जाने की यात्रा कराते हो। वह यात्रायें तो मनुष्य जन्म-जन्मान्तर करते आये हैं। अब तुम्हारी यात्रा है घर जाने की। बाप आकर सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता बताते हैं। तुम जीवनमुक्ति में बाकी सब मुक्ति में चले जायेंगे। हाहाकार के बाद फिर जय-जयकार हो जाती है। अभी है कलियुग का अन्त। आफतें तो बहुत आने की हैं, फिर उस समय तुम याद की यात्रा में रह नहीं सकेंगे क्योंकि हंगामा बहुत हो जायेगा इसलिए बाप कहते हैं अब याद की यात्रा को बढ़ाते जाओ तो पाप भस्म हो जायें और फिर जमा भी करो। सतोप्रधान तो बनो। बाप कहते हैं मैं हर कल्प के पुरूषोत्तम संगमयुग पर आता हूँ। यह तो बहुत छोटा सा ब्राह्मणों का युग है। ब्राह्मणों की निशानी चोटी होती है। ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र – यह चक्र फिरता ही रहता है। ब्राह्मणों का बहुत छोटा कुल होता है, इस छोटे से युग में बाप आकर तुमको पढ़ाते हैं। तुम बच्चे भी हो तो स्टूडेन्ट भी हो, फालोअर्स भी हो। एक के ही हैं। ऐसा कोई मनुष्य होता नहीं जो बाप भी हो, शिक्षा देने वाला टीचर भी हो, सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देता हो, फिर साथ में भी ले जाये। ऐसा कोई मनुष्य हो न सके। यह बातें अभी तुम समझते हो। सतयुग में भी पहले-पहले बहुत छोटा झाड़ होता है, बाकी सब शान्तिधाम में चले जायेंगे। बाप को कहा जाता है सर्व का सद्गति दाता। बाप को बुलाते हैं – हे पतित-पावन बाबा आओ। दूसरे तरफ फिर कहते हैं परमात्मा कुत्ते-बिल्ली, पत्थर-ठिक्कर सबमें है। बेहद के बाप का अपकार करते हैं। बाप जो विश्व का मालिक बनाते, उनको डिफेम करते हैं। इसे ही कहा जाता है रावण का संग-दोष। सत का संग तारे, कुसंग डुबोये। रावण राज्य शुरू होता है तो तुम गिरने लग पड़ते हो। बाप आकरके तुम्हारी चढ़ती कला करते हैं। बाप आकर मनुष्य को देवता बनाते हैं तो सर्व का भला हो जाता है। अभी तो सब यहाँ हैं, बाकी जो भी रहे हुए हैं, वह आते रहते हैं। जब तक निराकारी दुनिया से सब आत्मायें आ जायेंगी तब तक तुम इम्तहान में भी नम्बरवार पास होते जायेंगे। इनको कहा जाता है रूहानी कॉलेज। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को पढ़ाने आते हैं, रावण राज्य आया तो फिर शरीर छोड़ अपवित्र राजा बनें और पवित्र देवताओं के आगे माथा टेकने लगे। आत्मा ही पतित अथवा पावन बनती है। आत्मा पतित तो शरीर भी पतित मिलता है। सच्चे सोने में खाद पड़ती है तो खाद का जेवर हो जाता है। अब आत्मा से खाद निकले कैसे? योग अग्नि चाहिए, उनसे तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। आत्मा में चाँदी, तांबा, लोहा पड़ गया है। यह है खाद। आत्मा सच्चा सोना है। अब झूठी बन गई है। वह खाद निकले कैसे? यह है योग अग्नि, ज्ञान चिता पर बैठे हो। आगे थे काम चिता पर। बाप ज्ञान चिता पर बिठाते हैं। सिवाए ज्ञान सागर बाप के और कोई ज्ञान चिता पर बिठा न सके। मनुष्य भक्ति मार्ग में कितनी पूजा करते रहते हैं लेकिन किसको जानते नहीं। अभी तुम सबको जान गये हो। तुम सब देवता बनते हो तो फिर पूजा की बात ही खत्म हो जाती है। जब रावण राज्य शुरू होता है तब भक्ति शुरू होती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सजाओं से मुक्त होने के लिए विजय माला का दाना बनने का पुरूषार्थ करना है, रूहानी पण्डा बन सबको शान्तिधाम घर की यात्रा करानी है।

2) याद की यात्रा को बढ़ाते-बढ़ाते सब पापों से मुक्त हो जाना है। योग अग्नि से आत्मा को सच्चा सोना बनाना है, सतोप्रधान बनना है।

वरदान:- हर कर्म में बाप के साथ भिन्न-भिन्न सम्बन्धों से स्मृति स्वरूप बनने वाले श्रेष्ठ भाग्यवान भव
सारे दिन के हर कर्म में कभी भगवान के सखा वा सखी रूप को, कभी जीवन साथी रूप को, कभी मुरब्बी बच्चे के रूप को, जब कभी दिलशिकस्त होते हो तो सर्वशक्तिवान स्वरूप से मा. सर्वशक्तिवान के स्मृति स्वरूप को इमर्ज करो तो दिलखुश हो जायेंगे और बाप के साथ का स्वत: अनुभव करेंगे फिर यह ब्राह्मण जीवन सदा अमूल्य, श्रेष्ठ भाग्यवान अनुभव होती रहेगी।
स्लोगन:- ब्रह्मा बाप समान बनना अर्थात् सम्पूर्णता की मंजिल पर पहुंचना।

TODAY MURLI 23 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 August 2018 :- Click Here

23/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you can climb the steep ladder of remembrance when you have true love for the Father. It is only through the race of remembrance that you will be able to enter the rosary of victory.
Question: What are the visible signs of your having true love for the one Father?
Answer: If you have true love for the one Father, your love for the old world and old bodies will finish. To die alive is a sign of love. Let there be no love for anyone except the Father. Let it remain in your intellects that this is your final birth and that you now have to return home. Baba says: Children, you have completed the play of 84 births. Now forget everything and remember Me and I will take you back with Me.
Song: O dweller of the forest, your name is the support for my life. 

Om shanti. Sweetest, beloved, long-lost and now-found children heard in the song how this is the false world. The term ‘land of falsehood’ refers to Bharat. Everyone is concerned about his or her own birthplace. You children say that you now have no connection with this land of falsehood because there is a lot of sorrow here. There is now no name or trace of happiness. A very short time now remains for the land of falsehood. In this final birth it is called the land of falsehood, the land of death. That is the land of immortality. Death comes to you in the land of death. Then you take rebirth in the false world. You children know that you have now completed your 84 births. We now have no connection with this world. The Father has come to take us back and so we have no connection with this old world. Your love is connected to the Father and so you receive the inheritance, whereas the Yadavas and Kauravas have intellects with no love, that is, they don’t know the Father. You children now have loving intellects for the one Father. The Father says: You may live at home with your family, but remember the Father. The parts of all the actors are now coming to an end. Everyone is to shed his or her body. Baba has to take everyone back home. People don’t want to die, whereas you have died alive. You don’t have love for anyone in this world, not even for this body. The soul has received enlightenment: I am a child of the Father and I have now completed my 84 births. The play is now ending. We were deities and we then became warriors, merchants and shudras. We have now become Brahmins once again. You have to remember this cycle fully. The soul says: Having taken rebirth after rebirth, this is truly my last birth. The Father has come to take us back. We have been around the cycle of 84 births many times. You have become spinners of the discus of self-realisation. It is explained that you have been around the cycle of 84 births in this way. It would not be said that all the people of Bharat take the full 84 births. Only those who become Brahmins understand this. It was also explained to you 5000 years ago: O children, you don’t know your own births. No one can speak about 8.4 million births. You now know about all the religions in the cycle. Those who are clever at calculating would quickly understand that those of such and such a religion truly have to take so many births. You now have full faith that you have completed 84 births. The Father has now come to take you back. There is to be a great war for this. All of those people have non-loving intellects at the time of destruction. The task of destruction takes place at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. The confluence of the golden and silver ages is not called the period of destruction. There, growth still continues. Now there has to be destruction of everyone. This is called the time of destruction. This is now your final birth. If the Father came prior to this, you couldn’t say that that was your final birth. I come when the play comes to an end. You souls know that you truly do take 84 births. It is remembered that a kumari is one who uplifts 21 clans. They don’t understand what the 21 clans are. In Bharat, there is a lot of importance given to kumaris; they are worshipped. Jagadamba is also a kumari. There has to be a meaning to calling a kumari Jagadamba. When there is Jagadamba, Jagadpita is also required. Together with the World Father, a mother is also needed. There are many mothers who are also called world mothers. It was written in the newspapers that a particular mother was called the World Mother. The world means the whole world. So, would there be one mother of the world or 10 to 20? The Father, the Creator, is only one and so there has to be one mother too. All of you mothers are the masters of the world. There is one World Mother, Jagadamba. So, you children now have love for one Shiv Baba. Those among you who have full love are also numberwise, according to your efforts. You brides should have love for the one Bridegroom and children should have love for the one Father. You have to break your love away from everyone else. Become destroyers of attachment. Destroy your attachment to the old world. When a home has become old, the father builds a new one. When the new one is completed, the old one is demolished. The Father says: I create heaven, the new world, for you. There is New Delhi in the new world. It is on the same bank of this River Jamuna where you rule the kingdom. You know that there is a huge expansion of devotion. Knowledge is very short, just one second. By knowing the Seed, you know the whole tree. There is the tree of the variety of religions and the foundation of that is the deity religion. For half the cycle there are no religions except that one, but look how many religions are established in the other half. It is said: The Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the deity and warrior religions through the mouth of Brahma. You can see that. You are the only Brahmins. Among you, too, some will become the sun dynasty and others will become the moon dynasty. The Brahmin religion is the highest on high. The people of Bharat do not know their own religion. It is said: Religion ismight. The Father is now establishing religion and so you are claiming so much strength from the Father by belonging to Him. This means that only the Almighty Authority Father makes you children powerful through yoga. The Father is so incognito. He doesn’t have a body of His own. He is called the Almighty Authority and so He would definitely give you might. Your name is Shiv Shaktis. You are those who take power from Shiva. You change hell into heaven. You are receiving power. You conquer Ravan with the power of yoga. Therefore, you now love the Almighty Authority Father, numberwise, according to the effort you make. Many have intellects with no love because they don’t remember the Father. Those who remember the Father a great deal have a lot of love. For those who have less love, you can understand that they don’t remember the Father. They say: What can I do? I repeatedly forget. Ah, but can you not remember your Bridegroom? Can you not remember the Father from whom you receive the inheritance of heaven? Tell Baba the reason for this. A child says that he can’t remember the Father! How would you then receive your inheritance? The more you remember the Father, the more power you receive. Don’t think that you can remember Shiv Baba and also continue to dirty your face at the same time. In that case, you won’t be able to receive your fortune of the kingdom. Some say: Baba, I forget You. I wilt. Baba says: Ah, you have become a child of God, so you should be very intoxicated. You should remember such a Father constantly. Become those with loving intellects. If you don’t have love for Shiv Baba, you won’t have love for Brahma. Such children will just continue to fight and quarrel with everyone. If you don’t have yoga, how can you claim your inheritance? You cannot become Godly nightingales. You have to become nightingales. Baba has Godly nightingales, parrots and even some crows who continue to fight and quarrel with everyone. Some are even pigeons ; they cannot make any sound. There are different types of flowers in a garden. Each of you can ask yourself: What kind of flower am I? Am I a rose or a spiritual rose? Am I doing service like Mama and Baba? Can I marry Shri Narayan or Shri Lakshmi? You have to ask yourself: How much do I remember the Father? How much service do I do? You definitely are to receive the inheritance from the Father. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, came in Bharat. Therefore, He must surely have made Bharat into heaven. It would definitely be when Shiv Baba comes that He creates the golden age. People celebrate the birthday of Shiva. There is the birthplace of Shiva and also the birthplace of Krishna. People celebrate the birthday of Krishna with a lot of pomp and splendour. Now, they don’t even have a public holiday for Shiv Jayanti. This is the city of darkness. Here, the people rule the people. There should really be the kingdom of kings and queens. According to the drama, that doesn’t exist now. You know that Bharat will become the pure land of kings. Therefore, those people have to be woken up. The divine land of kings is now being established once again. It has now become the land of devilish kings. At first, the people of Bharat were pure but they have now become impure. This is why people worship those (pure) beings. There is now no land of kings. You can write a letter or even print in a newspaper: Five thousand years ago Bharat was the divine land of kings; it is no longer that. You are Godly brothers and sisters. There are very few of you. It is sung: Rama went and Ravan went. You should understand that you are here for only a little while longer. Continue to claim your inheritance from the Father and also think about the future. Do this business and also do business for your livelihood. This is for the future. There is no labour in this. It is very easy. You receive liberation-in-life for 21 births in a second. You have to remember the Father and the cycle. Only by remembering the Father will you become pure. Impure beings cannot return home. A lot of punishment will have to be experienced. So the time of destruction is now. The Yadavas and the Kauravas had intellects without love. The Pandavas who became victorious had loving intellects. It is now that same period of time. The Father explains: Simply remember that you now have to return home. Very little time remains: the play is coming to an end. While living at home, simply continue to remember Baba. The ladder of remembrance is very steep. The rosary of Rudra has to be created and you will then receive a prize. You have to claim your fortune of the kingdom and you have to churn the ocean of knowledge for that. This is the pilgrimage of the intellects’ yoga. You have to race to the Father. Check: How much did I remember the Father throughout the day? How many did I change from thorns into flowers? If you don’t create subjects, over whom would you rule? Therefore, there are first the eight main ones, then there are 108 and then 16,108. Reason also says that expansion will definitely continue to take place. The kingdom will continue to grow. Hundreds of thousands of people will come even now. Keep this firmly in your intellects: We now have to return home. There is a lot of sorrow in this old world. Simply continue to remember the one Father. The pilgrimage is very long. Those who come at the end will be unable to claim such a high status. So much effort has to be made. There is so much suffering of karma. Then, how could those who come at the end make sufficient effort that their sins will be absolved? King Janak went into the silver age; he couldn’t become a sun-dynasty king. He was a king, he became surrendered, but he came too late and so he went into the moon dynasty. Only Brahmins can understand these things; shudras cannot understand these things. Yes, some do like purity, but they have to demonstrate it by living in a state of purity. Some are called followers of sannyasis, but they don’t become pure. Therefore, how could they be called followers? That is a lie. In no other spiritual gathering do they have an aim or objective. There are so many spiritual gatherings. Only the Father comes and changes human beings into deities. You become the masters of the world by having remembrance of the one Shiv Baba. If you don’t remember the Father, how would you receive the inheritance? It is your duty to make effort and constantly remember Baba. The stage where you have constant remembrance will be at the end. You don’t have that stage now. At the end, only eight win. It is by having remembrance that they go ahead of everyone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This is the time of destruction. Therefore, break your love away from bodily beings and have true love for the one Father. Destroy your attachment to this old home.
  2. Become a nightingale of knowledge and do the service of making thorns into flowers like yourself. Run the race of remembrance.
Blessing: May you be a true effort-maker and overcome a mountain of problems in a second with your flying stage.
In order to overcome a problem as big as the Himalayas, adopt the method of the flying stage. Constantly keep all attainments emerged in front of you and continue to fly in the flying stage and you will be able to overcome a problem as big as a mountain in a second. Simply experience your present and future reward. Just as you are able to see physical things very clearly with your physical eyes, in the same way, with your intellect’s eye of experience, see your reward very clearly. Continue to accumulate an income of multimillions at every step.
Slogan: Those who respect everyone become ideal images.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 August 2018

To Read Murli 22 August 2018 :- Click Here
23-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद की लम्बी सीढ़ी पर तब चढ़ सकेंगे जब कि बाप से सच्ची प्रीत होगी, याद की दौड़ी से ही विजय माला में आयेंगे”
प्रश्नः- एक बाप से सच्ची प्रीत है तो उसकी निशानी क्या दिखाई देगी?
उत्तर:- अगर सच्ची प्रीत एक बाप से है तो पुरानी दुनिया, पुराने शरीर से प्यार खत्म हो जायेगा। जीते जी मर जाना ही प्रीत की निशानी है। बाप के सिवाए किसी से भी प्यार न हो। बुद्धि में रहे अब घर जाना है, यह हमारा अन्तिम जन्म है। बाबा कहते – बच्चे, तुमने 84 जन्मों का खेल पूरा किया, अब सब कुछ भूल मुझे याद करो तो मैं तुम्हें साथ ले जाऊंगा।
गीत:- बनवारी रे…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने यह गीत सुना कि यह है झूठी दुनिया। झूठ खण्ड भारत के लिए कहा जाता है। हर एक को अपने-अपने बर्थ प्लेस का ख्याल रहता है। अभी बच्चे कहते हैं हमारा इस झूठ खण्ड से कोई तैलुक नहीं क्योंकि इसमें तो बहुत दु:ख हैं। अभी तो सुख का नाम निशान नहीं है। झूठ खण्ड की आयु अब बहुत थोड़ी रही है। यह अन्तिम जन्म है इसको झूठ खण्ड मृत्युलोक कहा जाता है। वह है अमरलोक। मृत्युलोक में काल खा जाता है। फिर पुनर्जन्म झूठी दुनिया में ही लेते हैं। बच्चे जानते हैं कि अब हमने 84 जन्म पूरे किये, अब हमारा इस दुनिया से कोई वास्ता नहीं। बाबा आये हैं लेने लिए तो इस पुरानी दुनिया से हमारा कोई तैलुक नहीं। तुम्हारी बाप से प्रीत जुटी है तो वर्सा भी तुमको मिलता है। बाकी यादव कौरवों की है विपरीत बुद्धि अर्थात् बाप को जानते ही नहीं। अभी तुम बच्चों की एक बाप के साथ ही प्रीत बुद्धि है। बाप कहते हैं कि गृहस्थ व्यवहार में भल रहो, बाप को याद करो। अभी सब एक्टर्स का पार्ट पूरा होता है। सबके शरीर छूटने हैं। सबको वापिस घर ले जाना है। मनुष्य मरना नहीं चाहते हैं। तुम तो जीते जी मर चुके हो। इस दुनिया में कोई से प्यार नहीं। इस शरीर से भी प्यार नहीं। आत्मा को रोशनी मिली है, हम बाप के बच्चे हैं हमारे 84 जन्म अब पूरे हुए। अब खेल पूरा हुआ। हम सो देवता थे फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनें। अब हम फिर ब्राह्मण बने हैं यह चक्र पूरा याद रखना है। आत्मा कहती है कि बरोबर पुनर्जन्म लेते-लेते अभी यह अन्तिम जन्म है। बाप आया है लेने लिए। अनेक बार हमने 84 जन्मों का चक्र लगाया है। स्वदर्शन चक्रधारी बने हो ना। समझाया जाता है कि ऐसे हमने 84 जन्मों का चक्र लगाया है। सभी भारतवासियों के पूरे 84 जन्म नहीं कहेंगे। जो ब्राह्मण बनते हैं वही समझते हैं। 5 हजार वर्ष पहले भी समझाया था – हे बच्चे, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। 84 लाख जन्मों का तो कोई वर्णन भी न कर सके।

अभी तुमको सभी धर्मो के चक्र का भी पता पड़ गया है। हिसाब-किताब में जो होशियार होंगे वह झट समझ जायेंगे। बरोबर फलाने धर्म को इतने जन्म लेने चाहिए। तुमको भी पूरा निश्चय है कि हमने 84 जन्म पूरे किये, अब बाप वापिस लेने लिए आये हैं जिसके लिए ही यह महाभारी लड़ाई है। उन सबकी है विनाश काले विपरीत बुद्धि। विनाशकाल है ही कलियुग के अन्त और सतयुग आदि के संगम पर। सतयुग और त्रेता के संगम को विनाशकाल नहीं कहेंगे। वहाँ तो वृद्धि को पाते रहते हैं। अभी सबका विनाश होना है इसको विनाश काल कहा जाता है। अभी तुम्हारा अन्तिम जन्म है। इसके पहले बाप आये तो कह न सके कि तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। जब खेल पूरा होता है तब ही मैं आता हूँ। तुम जानते हो बरोबर हम आत्मायें 84 जन्म लेती हैं। गाया भी जाता है कि कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। अब वह तो समझते नहीं कि 21 कुल किसको कहा जाता है। भारत में कुमारियों की बहुत मान्यता है, पूजते हैं। जगदम्बा भी कुमारी है ना। कुमारी को फिर जगदम्बा कहना इसका भी अर्थ चाहिए ना। जगत अम्बा है तो जगत पिता भी चाहिए ना। जगत पिता के साथ माता भी चाहिए। ऐसे तो बहुत मातायें हैं जिनको जगत माता भी कहते हैं। अखबार में भी पड़ा था – कोई माता को जगत माता लिखा था। अब जगत माना सारी सृष्टि। तो जगत की माँ एक होगी या 10-20 होंगी। रचता बाप एक है तो माता भी एक चाहिए ना। इतनी मातायें सब जगत के मालिक हैं। जगत की माता तो एक है ना जगत अम्बा। तो अभी तुम बच्चों की प्रीत है एक शिवबाबा से। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार हैं जिनकी पूरी प्रीत है। सजनी की एक साजन से, बच्चों की एक बाप से प्रीत होनी चाहिए। और सबसे प्रीत तोड़नी पड़े। नष्टोमोहा बनना है। पुरानी दुनिया से मोह नष्ट। जैसे पुराना घर होता है तो बाप नया बनाते हैं। जब नया बन जाता है तो उसमें बैठ पुराने को ख़लास कर देते हैं। बाप कहते हैं मैं तुम्हारे लिए स्वर्ग नई दुनिया रचता हूँ। नई दुनिया में नई देहली है। यही जमुना का कण्ठा है जहाँ तुम राज्य करते हो। तुम जानते हो भक्ति का बहुत बड़ा विस्तार है। ज्ञान तो बिल्कुल थोड़ा है – एक सेकेण्ड का। बीज को जानने से सारा झाड़ आ जाता है। भिन्न-भिन्न वैराइटी धर्मो का झाड़ है, उसमें मुख्य फाउण्डेशन है देवी-देवता धर्म। आधाकल्प में सिवाए एक धर्म के और कोई धर्म है नहीं। बाकी आधाकल्प में देखो कितने धर्मों की स्थापना होती है! कहा जाता है कि परमपिता परमात्मा ब्रह्मा मुख द्वारा देवता धर्म और क्षत्रिय धर्म की स्थापना करते हैं। सो तो देखते हो ब्राह्मण तो तुम हो ही। तुम्हारे में भी कोई सूर्यवंशी, कोई चन्द्रवंशी बनने वाले हैं। ऊंच ते ऊंच है ब्राह्मण धर्म। भारतवासी अपने धर्म को ही नहीं जानते हैं। कहा जाता है कि रिलीजन इज माइट। अभी बाप धर्म स्थापन करते हैं तो तुम बाप से कितनी ताकत लेते हो बाप का बनने से। गोया सर्वशक्तिमान बाप ही बच्चों को योग से शक्तिवान बनाते हैं। बाप है कितना गुप्त! उनको अपना शरीर है नहीं। सर्वशक्तिमान कहा जाता है तो जरूर शक्ति देंगे ना। तुम्हारा नाम ही है शिवशक्तियां। शिव से शक्ति लेने वाली हो। नर्क को स्वर्ग बनाती हो। यह तुमको बल मिलता है। योगबल से तुम रावण पर जीत पाती हो। तो तुम्हारी अब सर्व-शक्तिमान बाप से प्रीत है नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बहुत विपरीत बुद्धि भी हैं क्योंकि याद नहीं करते हैं। बहुत प्रीत उन्हों की है जो बहुत याद करते हैं। थोड़ी प्रीत है तो समझो याद नहीं करते। कहते हैं – क्या करें…., घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं….। अरे, साजन को तुम याद नहीं कर सकते हो? बाप, जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है, ऐसे बाप को याद नहीं कर सकते हो? कारण बताओ? बच्चा कहे बाप को याद नहीं कर सकता हूँ! अरे, फिर वर्सा कैसे मिलेगा? जितना बाप को याद करते हो उतनी शक्ति मिलती है। ऐसे नहीं कि शिवबाबा को भी याद करो और साथ-साथ काला मुँह भी करते रहो फिर राज्य-भाग्य मिल न सके। कहते हैं – बाबा, हम भूल जाते हैं, मुरझा जाते हैं। बाबा कहे – अरे, तुम ईश्वर की सन्तान बने हो, तुमको तो बहुत नशा चढ़ना चाहिए। ऐसे बाप को तो निरन्तर याद करना चाहिए। प्रीत बुद्धि बनना चाहिए। शिवबाबा से प्रीत नहीं तो ब्रह्मा से भी नहीं होगी। वह ऐसे ही सबसे लड़ते-झगड़ते रहेंगे। योग ही नहीं तो वर्सा कैसे ले सकते? गॉडली बुलबुल नहीं बन सकते। बुलबुल बनना चाहिए ना। बाबा के पास गॉडली बुलबुल हैं, मैनायें भी हैं, तोते भी हैं, कोई काबर भी हैं। सबसे लड़ते-झगड़ते हैं। कोई फिर पिज्जन (कबूतर) भी हैं। वह आवाज नहीं कर सकते हैं। बगीचे में भिन्न-भिन्न प्रकार के फूल होते हैं। हरेक अपने से पूछे कि मैं कौन-सा फूल हूँ? गुलाब का हूँ वा रुहे गुलाब हूँ? मैं मम्मा-बाबा जैसी सर्विस करता हूँ? क्या हम श्री नारायण को वा श्री लक्ष्मी को वर सकता हूँ? ऐसा अपने से पूछना है कि मैं कितना बाप को याद करता हूँ? कितनी सेवा करता हूँ? बाप से तो जरूर वर्सा मिलना है। निराकार परमपिता परमात्मा भारत में आये हैं, जरूर भारत को स्वर्ग बनाया होगा। जरूर शिवबाबा आये तब तो सतयुग बनायेंगे ना। शिव की जयन्ती मनाते हैं। शिव का भी बर्थ प्लेस है, तो श्रीकृष्ण का भी बर्थ प्लेस है। कृष्ण की जयन्ती तो बड़े धूमधाम से मनाते हैं। अभी तो शिव जयन्ति की छुट्टियां भी नहीं करते। अन्धेर नगरी है ना। यहाँ पर है ही प्रजा का प्रजा पर राज्य। होना चाहिए राजा-रानी का राज्य। वह तो ड्रामा अनुसार है ही नहीं।

तुम जानते हो कि भारत पवित्र राजस्थान हो जायेगा, तो उन्हों को भी जगाना है। फिर से दैवी राजस्थान स्थापन होता है। अभी आसुरी राजस्थान हो गया है। पहले भारतवासी पवित्र थे, अभी तो अपवित्र बने हैं तब तो लोग उन्हों की पूजा करते हैं। अभी तो नो राजस्थान। तुम चिट्ठी लिख सकते हो अथवा अखबार में भी डाल सकते हो कि भारत 5 हजार वर्ष पहले दैवी राजस्थान था, अभी नहीं है। तुम हो ईश्वरीय बहन-भाई। तुम हो बहुत थोड़े। गाया भी जाता है – राम गयो, रावण गयो….। समझना चाहिए कि हम बाकी बहुत थोड़ा समय हैं। बाप से वर्सा तो लेते रहें। साथ-साथ भविष्य का भी ख्याल करो। यह भी धन्धा करो, शरीर निर्वाह भी करना है। यह है भविष्य के लिए। इसमें मेहनत कुछ नहीं, बिल्कुल सहज है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति 21 जन्म के लिए मिलती है। बाप को और चक्र को याद करना है। बाप को याद करने से ही पावन बनेंगे। पतित कोई जा न सके। बहुत सजायें खानी पड़ेंगी। तो विनाशकाल अभी है। यादव और कौरव की है विपरीत बुद्धि। पाण्डवों की प्रीत बुद्धि थी, जिनकी ही विजय हुई। अभी वही समय है। बाप समझाते हैं – सिर्फ यह याद करो कि अब वापिस जाना है। बाकी थोड़ा समय है, नाटक पूरा होता है। गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ बाबा को याद करना है। याद की ही लम्बी सीढ़ी है। रुद्र माला बननी है फिर इनाम मिलेगा। राज्य भाग्य पाना है, उसके लिए विचार सागर मंथन करना है। यह है बुद्धि-योग की यात्रा। बाप के पास दौड़ना है। देखना है कि सारे दिन में बाप को कितना याद किया? कितने को कांटों से फूल बनाया। प्रजा नहीं बनायेंगे तो किस पर राज्य करेंगे इसलिए पहले 8 मुख्य बनते हैं, फिर 108, फिर 16108 हो जाते हैं। विवेक भी कहता है – यह तो जरूर है, वृद्धि तो होती रहेगी। राजधानी वृद्धि को पाती रहेगी। अभी भी ढेर लाखों आयेंगे। बुद्धि में यह पक्का याद रखो – अभी हमको घर जाना है। इस पुरानी दुनिया में दु:ख बहुत हैं। बस, एक बाप को याद करते रहो। बड़ी लम्बी यात्रा है। पिछाड़ी में आने वाले इतना ऊंच पद पा न सकें। कितनी मेहनत करनी पड़ती है! कर्मभोग कितना चलता है! फिर पिछाड़ी में आने वाले इतनी मेहनत कैसे कर सकते हैं, जो विकर्म विनाश हो जाएं? जनक भी त्रेता में चला गया। सूर्यवंशी राजा बन न सका। राजा था, सरेन्डर भी हुआ, परन्तु टूलेट आया तो चन्द्रवंशी में चला गया। इन बातों को ब्राह्मण ही समझ सकते हैं, शूद्र समझ न सकें। हाँ, कईयों को प्योरिटी अच्छी लगती है परन्तु प्योरिटी में रहकर भी दिखायें ना? सन्यासियों के फालोअर्स कहलाते हैं, खुद तो पवित्र बनते नहीं तो फालोअर्स कैसे हुए? यह भी झूठ हुआ ना। कोई भी सतसंग में एम ऑबजेक्ट होती नहीं। कितने ढेर सतसंग हैं। यह तो बाप ही आकर मनुष्य से देवता बनाते हैं। विश्व का मालिक तुम बनते हो एक शिवबाबा की याद से। बाप को याद ही नहीं करेंगे तो वर्सा कैसे मिलेगा? यह तो तुम्हारा काम है – पुरुषार्थ कर निरन्तर याद करना। निरन्तर याद रहे, वह अवस्था अन्त में होगी। अभी नहीं है। पिछाड़ी में 8 ही विन करते हैं, याद करते-करते सबसे पहले जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विनाश काल का समय है इसलिए देहधारियों से प्रीत तोड़ एक बाप से सच्ची प्रीत रखनी है। इस पुराने घर से मोह नष्ट कर देना है।

2) ज्ञान की बुलबुल बन आप समान कांटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। याद की दौड़ लगानी है।

वरदान:- समस्याओं रूपी पहाड़ को उड़ती कला द्वारा सेकण्ड में पार करने वाले सहज पुरुषार्थी भव
हिमालय पर्वत जितनी बड़ी समस्या को भी पार करने के लिए उड़ती कला की विधि को अपनाओ। सदा अपने सामने सर्व प्राप्तियों को इमर्ज रखो, और उड़ती कला में उड़ते रहो तो समस्या रूपी पहाड़ को सेकण्ड में पार कर लेंगे। सिर्फ वर्तमान और भविष्य प्रालब्ध के अनुभवी बनो। जैसे स्थूल नेत्रों द्वारा स्थूल वस्तु स्पष्ट दिखाई देती है ऐसे बुद्धि के अनुभव के नेत्र द्वारा प्रालब्ध स्पष्ट दिखाई दे, हर कदम में पदमों की कमाई जमा करते रहो।
स्लोगन:- जो सबका आदर करते हैं वही आदर्श मूर्त बनते हैं।
Font Resize