daily murli 22 december

TODAY MURLI 22 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 22 December 2020

22/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now received divine vision from the Father. Only with this divine vision can you see souls and the Supreme Soul.
Question: By understanding which secret of the drama will you never give a particular type of advice to anyone?
Answer: When you understand that whatever happened in the drama in the past repeats accurately, you will never advise anyone to stop performing devotion. When this knowledge sits in their intellects very well, when they understand that they are souls and that they have to claim their inheritance from the unlimited Father, and when they also recognize Him, all their limited things will automatically finish.

Om shanti. Are you sitting here stabilized in your original religion? The spiritual Father asks you spiritual children because you know that only the unlimited Father is called the Spirit. It is just that He is called the Supreme. He is called the Supreme Spirit or the Supreme Soul. The Supreme Soul, God, definitely exists; it cannot be said that He doesn’t exist. The Supreme Soul means God. This has been explained to you. Therefore, you mustn’t become confused because you also heard this knowledge 5000 years ago. It is you souls who listen to this. Souls are very tiny and subtle. They are so tiny that they cannot be seen with anyone’s eyes. There isn’t a single human being who would have seen a soul with the physical eyes. They can be seen, but only with divine vision, and that, too, is according to the dramaplan. OK, for instance, someone has a vision of a soul in the same way that he sees other things. On the path of devotion too, when they have visions of something, it is through their physical eyes. They receive that divine vision and see it though it is in the living form. A soul receives the eye of knowledge through which he sees something, but that is in a state of trance. On the path of devotion, it is when they perform a lot of devotion that they receive visions. For instance, Meera had a vision of herself dancing in heaven. However, heaven didn’t exist then. That must have been 500 to 600 years ago. Heaven really didn’t exist at that time. Whatever existed in the past is seen with divine vision. When they perform a lot of devotion and become completely engrossed in devotion they have a vision, but they don’t receive liberation through that. The path to liberation and liberation-in-life is completely separate from that of devotion. There are so many temples in Bharat. They place a lingam of Shiva too in them. They have large and small lingams. You children understand that souls are like the Supreme Soul. The size of all souls is the same. As is the Father, so the children. All souls are brothers. Souls enter their bodies to play their parts. This is something that has to be understood. These are not tall stories of the path of devotion. Only the one Father explains things of the path of knowledge. First of all, it is only the unlimited incorporeal Father who explains everything. No one can understand Him completely or accurately. They say that He is omnipresent. That is not right. They call out to the Father with a lot of love. They say: Baba, when You come, we will surrender ourselves to You. You alone, and none other, are mine. Therefore, you definitely have to remember Him. He Himself says: O children! He speaks to souls. This is called spiritual knowledge. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. This account has also been shown. You souls have lived apart from Him for a long time and it is now that you have come to the Father to study your Raj Yoga once again. That Teacher is your Servant. A teacher is always an obedient servant. The Father too says: I am the Servant of all the children. You call out as though it is your right: O Purifier, come and purify us! All of you are devotees. You say: O God, come! Come and purify us once again! The pure world is called heaven and the impure world is called hell. All of these matters have to be understood. This is a college and Godfatherly World University. Its aim and objective is to change human beings into deities. You children have the faith that this is what you want to become. Would anyone who doesn’t have faith sit in a school? You have the aim and objective in your intellects. If you were going to become a barrister or a doctor, you would have to study. If you didn’t have this faith, you wouldn’t even come here. You have the faith that you change from ordinary human beings into deities, from an ordinary human into Narayan. This is the true story of changing from an ordinary human into Narayan. In fact, this is a study, but why is it called a story? Because you also heard it 5000 years ago. That is now the past. The past is called a katha (a religious story). These are the teachings for you to change from an ordinary human into Narayan. You children know in your hearts that deities exist in the new world and that human beings exist in the old world. Human beings don’t have the virtues that the deities have; that is why they are called deities. Human beings bow down in front of the deity idols and say: You are full of all virtues…. Then they call themselves degraded sinners. It is human beings that say this. It isn’t deities that say this. Deities exist in the golden age; they cannot exist in the iron age. However, nowadays, they call everyone Shri, Shri. Shri means elevated. Only God can make you the most elevated. Elevated deities exist in the golden age. At this time, no human beings are elevated. You children now have unlimited renunciation. You know that this old world is about to be destroyed and this is why you have disinterest in it. Those people are hatha yogi renunciates. They renounce their homes and leave them. Then they go and live in palaces. There are no expenses in living in their little huts; none whatsoever. For solitude, one has to sit in a little hut, not in a palace. Baba too has had a little hut made. There is every happiness in a little hut. You children now have to make effort to change from human beings into deities. You know that whatever happened in the drama has now become the past and that it will repeat again accurately. This is why you mustn’t advise anyone to stop performing devotion. When this knowledge enters their intellects, they will understand that they are souls and that they have to claim their inheritance from the unlimited Father. When there is recognition of the unlimited Father, all limited things finish. The Father says: While living at home with your families, simply connect your intellects in yoga to the Father. Actions have to be performed for the livelihood of the body, just as some people perform a lot of intense devotion on the path of devotion. They go to see the idols every day as a very firm discipline. To go to bodily beings is a physical pilgrimage. They have to stumble so much on the path of devotion. Here, you don’t have to stumble at all. When people come here, they are made to sit down so that this knowledge can be explained to them. However, it isn’t that you have to sit in one place in order to remember the Father. Can the devotees of Krishna on the path of devotion not remember him while walking and moving around? This is why educated people ask: Since there is a picture of Krishna in their houses, why should people need to go to the temples? You can worship the picture of Krishna wherever you are. Achcha, you might not have a picture, but you can still remember him. Once you have seen something, you continue to remember that. You too are asked the same thing: Can you not remember Shiv Baba while sitting at home? This is something new. No one knows Shiv Baba. They don’t know His name, form, land or time period but simply say that He is omnipresent. A soul cannot be called the Supreme Soul. Souls remember their Father, but, because they don’t know Him, you have to explain to them for seven days. Then, all the points of detail are also explained. The Father is the Ocean of Knowledge. You have been listening to Him for so long because He has the knowledge. You understand that you receive knowledge to change from humans into deities. The Father says: I tell you new, deep things every day. When you don’t receive a murli, you cry so much! The Father says: Simply remember the Father! Even though you study the murli, you still forget the Father. First of all, you have to remember: I am a soul, a tiny point. You have to understand what a soul is. They say: The soul left that one and entered someone else. We souls became impure by taking rebirth. Previously, you belonged to the religion of the pure household. Lakshmi and Narayan were both pure. Then, both became impure and now both are becoming pure again. So, did they become pure from impure or did they take a pure birth? The Father sits here and explains how you were pure and how, by going onto the path of sin, you then became impure. Worshippers are said to be impure whereas those who are worthy of worship are said to be pure. The history and geography of the whole world is in your intellects. You know who used to rule there and how they received their kingdom. There isn’t anyone else who knows this. Earlier, you too didn’t have the knowledge of the Creator or the beginning, the middle or the end of creation. This means that you were atheists; you didn’t know anything. When you become atheists you experience so much sorrow. You have now come here to become deities. There will be so much happiness there. Divine virtues have to be imbibed here. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. There mustn’t be any criminal vision; this takes effort. The eyes are very criminal. Out of all the physical senses, the eyes are the most criminal. They remain criminal for half the cycle and civil for half the cycle. In the golden age, the eyes are not criminal. When someone’s eyes are criminal, he is said to be a devil. The Father Himself says: I enter the impure world. Those who have become impure have to become pure. People say that this one (Brahma) calls himself God. Look at the picture of the tree: This one is standing at the very top of the tree in the tamopradhan world. The same one is also doing tapasya beneath it. The dynasty of Lakshmi and Narayan continues in the golden age. That period is counted as the reign of Lakshmi and Narayan. This is why Baba says: When you show the kingdom of Lakshmi and Narayan, you should write: The silver age starts 1250 years after this kingdom starts. Hundreds of thousands of years are spoken of in the scriptures; there is the difference of day and night! There is the night of Brahma for half the cycle and the day of Brahma for half the cycle. Only the Father explains these things. Again He says: Sweet children, consider yourselves to be souls and remember the Father! By remembering Him you will become pure and then your final thoughts will lead you to your destination. Baba doesn’t ask you just to stay here. He does not ask serviceable children to stay here. Centres and museums continue to be opened. Invitations are given to so many people: Come and claim your Godly birthright of the kingdom of the world. You are the children of the Father. The Father is the Creator of heaven. Therefore, you should receive your inheritance of heaven. The Father says: I only come once to establish heaven. The same world cycle continues to turn. There are many dictates of human beings and they say many things. There are so many opinions. These are called undivided directions. The tree is so large! So many branches and twigs emerge. So many religions are spreading. Previously, there was the one direction and the one kingdom. It used to be their kingdom over the whole world. At this time you understand this. We were the masters of the whole world. Then, having taken 84 births, we have become poverty-stricken. You are now conquering death. There is no untimely death there. Here, someone takes untimely death while just sitting somewhere. There is nothing but death everywhere. It is not like that there. There, life continues for one’s full life. There used to be peacepurity and prosperity in Bharat. The average lifespan there was 150 years. Look at the lifespan now! God taught you yoga. Therefore, you are called yogeshwar. You won’t be called that there. You are yogeshwar at this time; God is teaching you Raj Yoga. You will then become raj-rajeshwar (princes and princesses). You are now gyaneshwar (knowledge-full). Then, you become rajeshwar, that is, the kings of kings. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make effort to make your eyes civil. Let your intellects always remain aware that you are brothers and sisters, children of Prajapita Brahma. Therefore, you must not have criminal vision.
  2. While acting for the livelihood of your body, connect your intellects in yoga to the one Father. Renounce all limited things and remember the unlimited Father. Become an unlimited renunciate.
Blessing: May you be filled with all alokik attainments of the confluence age by constantly swinging in the swing of supersensuous joy.
The children who are always full with alokik attainments continue to swing in the swing of supersensuous joy. Especially loved children are allowed to swing in swings. In the same way, the swing of Brahmins who are full of all attainments is the swing of supersensuous joy. Always continue to swing in this swing. Never come into body consciousness. Those who get off this swing and put their feet on the ground become dirty. Clean children of the highest-on-high Father constantly swing in the swing of supersensuous joy; they cannot place their feet in the mud.
Slogan: Renunciation of the ego of “I am a renunciate” is real renunciation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

22-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें अभी बाप द्वारा दिव्य दृष्टि मिली है, उस दिव्य दृष्टि से ही तुम आत्मा और परमात्मा को देख सकते हो”
प्रश्नः- ड्रामा के किस राज़ को समझने वाले कौन-सी राय किसी को भी नहीं देंगे?
उत्तर:- जो समझते हैं कि ड्रामा में जो कुछ पास्ट हो गया वह फिर से एक्युरेट रिपीट होगा, वह कभी किसी को भक्ति छोड़ने की राय नहीं देंगे। जब उनकी बुद्धि में ज्ञान अच्छी रीति बैठ जायेगा, समझेंगे हम आत्मा हैं, हमें बेहद के बाप से वर्सा लेना है। जब बेहद के बाप की पहचान हो जायेगी तो हद की बातें स्वत: खत्म हो जायेंगी।

ओम् शान्ति। अपनी आत्मा के स्वधर्म में बैठे हो? रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं क्योंकि यह तो बच्चे जानते हैं एक ही बेहद का बाप है, जिसको रूह कहते हैं। सिर्फ उनको सुप्रीम कहा जाता है। सुप्रीम रूह या परम आत्मा कहते हैं। परमात्मा है जरूर, ऐसे नहीं कहेंगे कि परमात्मा है ही नहीं। परम आत्मा माना परमात्मा। यह भी समझाया गया है, मूंझना नहीं चाहिए क्योंकि 5 हज़ार वर्ष पहले भी यह ज्ञान तुमने सुना था। आत्मा ही सुनती है ना। आत्मा बहुत छोटी सूक्ष्म है। इतना है जो इन आंखों से देखा नहीं जाता। ऐसा कोई मनुष्य नहीं होगा जिसने आत्मा को इन आंखों से देखा होगा। देखने में आती है परन्तु दिव्य दृष्टि से। सो भी ड्रामा प्लैन अनुसार। अच्छा, समझो कोई को आत्मा का साक्षात्कार होता है, जैसे और चीज़ देखने में आती है। भक्ति मार्ग में भी कुछ साक्षात्कार होता है तो इन आखों से ही। वह दिव्य दृष्टि मिलती है जिससे चैतन्य में देखते हैं। आत्मा को ज्ञान चक्षु मिलती है जिससे देख सकते हैं, परन्तु ध्यान में। भक्ति मार्ग में बहुत भक्ति करते हैं तब साक्षात्कार होता है। जैसे मीरा को साक्षात्कार हुआ, डांस करती थी। बैकुण्ठ तो था नहीं। 5-6 सौ वर्ष हुआ होगा। उस समय बैकुण्ठ था थोड़ेही। जो पास्ट हो गया है वह दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। जब बहुत भक्ति करते-करते एकदम भक्तिमय हो जाते हैं तब दीदार होता है परन्तु उनसे मुक्ति नहीं मिलती। मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता भक्ति से बिल्कुल न्यारा है। भारत में कितने ढेर मन्दिर हैं। शिव का लिंग रखते हैं। बड़ा लिंग भी रखते हैं, छोटा भी रखते हैं। अब यह तो बच्चे जानते हैं जैसी आत्मा है वैसे परमपिता परमात्मा है। साइज़ सबका एक ही है। जैसे बाप वैसे बच्चे। आत्मायें सब भाई-भाई हैं। आत्मायें इस शरीर में आती हैं पार्ट बजाने, यह समझने की बातें हैं। यह कोई भक्ति मार्ग की दन्त कथायें नहीं हैं। ज्ञान मार्ग की बातें सिर्फ एक बाप ही समझाते हैं। पहले-पहले समझाने वाला बेहद का बाप निराकार ही है, उनके लिए पूरी रीति कोई भी समझ नहीं सकते। कहते हैं वह तो सर्वव्यापी है। यह कोई राइट नहीं। बाप को पुकारते हैं, बहुत प्यार से बुलाते हैं। कहते हैं बाबा आप जब आयेंगे तो आप पर हम वारी जायेंगे। मेरा तो आप, दूसरा न कोई। तो जरूर उनको याद करना पड़े। वह खुद भी कहते हैं हे बच्चों। आत्माओं से ही बात करते हैं। इसको रूहानी नॉलेज कहा जाता है। गाया भी जाता है आत्मा और परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. यह भी हिसाब बताया है। बहुतकाल से तुम आत्मायें अलग रहती हो, जो ही फिर इस समय बाप के पास आई हो। फिर से अपना राजयोग सीखने। यह टीचर सर्वेन्ट है। टीचर हमेशा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट होते हैं। बाप भी कहते हैं हम तो सब बच्चों का सर्वेन्ट हूँ। तुम कितना हुज्जत से बुलाते हो हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। सब हैं भक्तियाँ। कहते हैं – हे भगवान आओ, हमको फिर से पावन बनाओ। पावन दुनिया स्वर्ग को, पतित दुनिया नर्क को कहा जाता है। यह सब समझने की बाते हैं। यह कॉलेज अथवा गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी है। इसकी एम ऑब्जेक्ट है मनुष्य से देवता बनना। बच्चे निश्चय करते हैं हमको यह बनना है। जिसको निश्चय ही नहीं होगा वह स्कूल में बैठेगा क्या? एम ऑब्जेक्ट तो बुद्धि में है। हम बैरिस्टर वा डॉक्टर बनेंगे तो पढ़ेंगे ना। निश्चय नहीं होगा तो आयेंगे ही नहीं। तुमको निश्चय है हम मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनते हैं। यह सच्ची-सच्ची सत्य नर से नारायण बनने की कथा है। वास्तव में यह है पढ़ाई परन्तु इनको कथा क्यों कहते हैं? क्योंकि 5 हज़ार वर्ष पहले भी सुनी थी। पास्ट हो गई है। पास्ट को कथा कहा जाता है। यह है नर से नारायण बनने की शिक्षा। बच्चे दिल से समझते हैं नई दुनिया में देवतायें, पुरानी दुनिया में मनुष्य रहते हैं। देवताओं में जो गुण हैं वह मनुष्यों में नहीं हैं, इसलिए उनको देवता कहा जाता है। मनुष्य देवताओं के आगे नमन करते हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न… हो फिर अपने को कहते हैं हम पापी नींच हैं। मनुष्य ही कहते हैं, देवताओं को तो नहीं कहेंगे। देवतायें थे सतयुग में, कलियुग में हो न सकें। परन्तु आजकल तो सबको श्री श्री कह देते हैं। श्री माना श्रेष्ठ। सर्वश्रेष्ठ तो भगवान ही बना सकते हैं। श्रेष्ठ देवता सतयुग में थे, इस समय कोई मनुष्य श्रेष्ठ हैं नहीं। तुम बच्चे अभी बेहद का संन्यास करते हो। तुम जानते हो यह पुरानी दुनिया खत्म होने वाली है, इसलिए इन सबसे वैराग्य है। वह तो हैं हठयोगी संन्यासी। घरबार छोड़ निकले, फिर आकर महलों में बैठे हैं। नहीं तो कुटिया पर कोई खर्चा थोड़ेही लगता है, कुछ भी नहीं। एकान्त के लिए कुटिया में बैठना होता है, न कि महलों में। बाबा की भी कुटिया बनी हुई है। कुटिया में सब सुख हैं। अभी तुम बच्चों को पुरुषार्थ कर मनुष्य से देवता बनना है। तुम जानते हो ड्रामा में जो कुछ पास्ट हो गया वह फिर से एक्यूरेट रिपीट होगा, इसलिए किसको भी ऐसी राय नहीं देनी है कि भक्ति छोड़ो। जब ज्ञान बुद्धि में आ जायेगा तो समझेंगे हम आत्मा हैं, हमको अब तो बेहद के बाप से वर्सा लेना है। बेहद के बाप की जब पहचान होती है तो फिर हद की बातें खत्म हो जाती हैं। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ बुद्धि का योग बाप से लगाना है। शरीर निर्वाह के लिए कर्म भी करना है, जैसे भक्ति में भी कोई-कोई बहुत नौधा भक्ति करते हैं। नियम से रोज़ जाकर दर्शन करते हैं। देहधारियों के पास जाना, वह सब है जिस्मानी यात्रा। भक्ति मार्ग में कितने धक्के खाने पड़ते हैं। यहाँ कुछ भी धक्का नहीं खाना है। आते हैं तो समझाने के लिए बिठाया जाता है। बाकी याद के लिए कोई एक जगह बैठ नहीं जाना है। भक्ति मार्ग में कोई कृष्ण का भक्त होता है तो ऐसे नहीं चलते-फिरते कृष्ण को याद नहीं कर सकते इसलिए जो पढ़े लिखे मनुष्य होते हैं, कहते हैं कृष्ण का चित्र घर में रखा है फिर तुम मन्दिरों में क्यों जाते हो। कृष्ण के चित्रों की पूजा तुम कहाँ भी करो। अच्छा, चित्र न रखो, याद करते रहो। एक बार चीज़ देखी तो फिर वह याद रहती है। तुमको भी यही कहते हैं, शिवबाबा को तुम घर बैठे याद नहीं कर सकते हो? यह तो है नई बात। शिवबाबा को कोई भी जानते नहीं। नाम, रूप, देश, काल को जानते ही नहीं, कह देते सर्वव्यापी है। आत्मा को परमात्मा तो नहीं कहा जाता है। आत्मा को बाप की याद आती है। परन्तु बाप को जानते नहीं तो समझाना पड़े 7 रोज। फिर रेज़गारी प्वाइंट्स भी समझाई जाती हैं। बाप ज्ञान का सागर है ना। कितने समय से सुनते आये हो क्योंकि नॉलेज है ना। समझते हो हमको मनुष्य से देवता बनने की नॉलेज मिलती है। बाप कहते हैं तुमको नई-नई गुह्य बातें सुनाते हैं। मुरली तुमको नहीं मिलती है तो तुम कितना चिल्लाते हो। बाप कहते हैं तुम बाप को तो याद करो। मुरली पढ़ते हो फिर भी भूल जाते हो। पहले-पहले तो यह याद करना है – मैं आत्मा हूँ, इतनी छोटी बिन्दी हूँ। आत्मा को भी जानना है। कहते हैं इनकी आत्मा निकल दूसरे में प्रवेश किया। हम आत्मा ही जन्म लेते-लेते अब पतित, अपवित्र बने हैं। पहले तुम पवित्र गृहस्थ धर्म के थे। लक्ष्मी-नारायण दोनों पवित्र थे। फिर दोनों ही अपवित्र बने, फिर दोनों पवित्र होते हैं तो क्या अपवित्र से पवित्र बनें? या पवित्र जन्म लिया? बाप बैठ समझाते हैं, कैसे तुम पवित्र थे। फिर वाम मार्ग में जाने से अपवित्र बने हो। पुजारी को अपवित्र, पूज्य को पवित्र कहेंगे। सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी तुम्हारे बुद्धि में है। कौन-कौन राज्य करते थे? कैसे उन्हों को राज्य मिला, यह तुम जानते हो, और कोई नहीं जो जानता हो। तुम्हारे पास भी आगे यह नॉलेज, रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की नहीं थी, गोया नास्तिक थे। नहीं जानते थे। नास्तिक बनने से कितना दु:खी बन जाते हैं। अब तुम यहाँ आये हो यह देवता बनने। वहाँ कितने सुख होंगे। दैवीगुण भी यहाँ धारण करने हैं। प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद भाई-बहन ठहरे ना। क्रिमिनल दृष्टि जानी नहीं चाहिए, इसमें है मेहनत। आंखें बड़ी क्रिमिनल हैं। सब अंगों से क्रिमिनल हैं आंखें। आधाकल्प क्रिमिनल, आधाकल्प सिविल रहती हैं। सतयुग में क्रिमिनल नहीं रहती हैं। आंखें क्रिमिनल हैं तो असुर कहलाते हैं। बाप खुद कहते हैं मैं पतित दुनिया में आता हूँ। जो पतित बने हैं, उनको ही पावन बनना है। मनुष्य तो कहते हैं यह अपने को भगवान कहलाते हैं। झाड़ में देखो एकदम तमोप्रधान दुनिया के अन्त में खड़ा है, वही फिर तपस्या कर रहे हैं। सतयुग से लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी चलती है। संवत भी इन लक्ष्मी-नारायण से गिना जायेगा इसलिए बाबा कहते हैं लक्ष्मी-नारायण का राज्य दिखाते हो तो लिखो इससे 1250 वर्ष के बाद त्रेता। शास्त्रों में फिर लाखों वर्ष लिख दिये हैं। रात-दिन का फर्क हो गया ना। ब्रह्मा की रात आधाकल्प, ब्रह्मा का दिन आधाकल्प – यह बातें बाप ही समझाते हैं। फिर भी कहते हैं – मीठे बच्चे, अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो। उनको याद करते-करते तुम पावन बन जायेंगे, फिर अन्त मति सो गति हो जायेगी। बाबा ऐसे नहीं कहते हैं यहाँ बैठ जाओ। सर्विसएबुल बच्चों को तो बिठायेंगे नहीं। सेन्टर्स म्युज़ियम आदि खोलते रहते हैं। कितने को निमंत्रण बांटते हैं, आकर गॉडली बर्थ राइट विश्व की बादशाही लो। तुम बाप के बच्चे हो। बाप है स्वर्ग का रचयिता तो तुमको भी स्वर्ग का वर्सा होना चाहिए। बाप कहते हैं मैं एक ही बार स्वर्ग की स्थापना करने आता हूँ। एक ही दुनिया है जिनका चक्र फिरता रहता है। मनुष्यों की तो अनेक मतें, अनेक बातें हैं। मत-मतान्तर कितने हैं, इसको कहा जाता है अद्वैत मत। झाड़ कितना बड़ा है। कितनी टाल-टालियाँ निकलती हैं। कितने धर्म फैल रहे हैं, पहले तो एक मत, एक राज्य था। सारे विश्व पर इनका राज्य था। यह भी अभी तुमको मालूम पड़ा है। हम ही सारे विश्व के मालिक थे। फिर 84 जन्म भोग कंगाल बने हैं। अभी तुम काल पर जीत पाते हो, वहाँ कभी अकाले मृत्यु होता नहीं। यहाँ तो देखो बैठे-बैठे अकाले मृत्यु होती रहती है। चारों तरफ मौत ही मौत है। वहाँ ऐसे नहीं होता, पूरी एज़ लाइफ चलती है। भारत में प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी थी। 150 वर्ष एवरेज आयु थी, अभी कितनी आयु रहती है।

ईश्वर ने तुमको योग सिखाया तो तुमको योगेश्वर कहते हैं। वहाँ थोड़ेही कहेंगे। इस समय तुम योगेश्वर हो, तुमको ईश्वर राजयोग सिखा रहे हैं। फिर राज-राजेश्वर बनना है। अभी तुम ज्ञानेश्वर हो फिर राजेश्वर अर्थात् राजाओं का राजा बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आंखों को सिविल बनाने की मेहनत करनी है। बुद्धि में सदा रहे हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हैं, क्रिमिनल दृष्टि रख नहीं सकते।

2) शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते बुद्धि का योग एक बाप से लगाना है, हद की सब बातें छोड़ बेहद के बाप को याद करना है। बेहद का संन्यासी बनना है।

वरदान:- सदा अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलने वाले संगमयुग की सर्व अलौकिक प्राप्तियों से सम्पन्न भव
जो बच्चे अलौकिक प्राप्तियों से सदा सम्पन्न हैं वो अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते रहते हैं। जैसे जो लाडले बच्चे होते हैं उनको झूले में झुलाते हैं। ऐसे सर्व प्राप्ति सम्पन्न ब्राह्मणों का झूला अतीन्द्रिय सुख का झूला है, इसी झूले में सदा झूलते रहो। कभी भी देह अभिमान में नहीं आना। जो झूले से उतरकर धरती पर पांव रखते हैं वो मैले हो जाते हैं। ऊंचे से ऊंचे बाप के स्वच्छ बच्चे सदा अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते, मिट्टी में पांव नहीं रख सकते।
स्लोगन:- “मैं त्यागी हूँ” इस अभिमान का त्याग ही सच्चा त्याग है।

TODAY MURLI 22 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 22 December 2019

22/12/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
24/03/85

If not now, then never.

Today, lovefull and lawful BapDada is seeing the accounts of all the children to see how much each of you has accumulated in your account. To become a Brahmin means to accumulate because, according to how much you have accumulated in this one birth, you will continue to receive the reward for 21 births. Not only will you receive the reward for 21 births but, according to how worthy of worship you become, that is, according to how worthy of a royal status you become, to that extent you will be worshipped for half the cycle on the path of devotion, as a right of your fortune of the kingdom. A royal status is elevated and so a worthy-of-worship form is also just as elevated. The number of subjects too is created accordingly. People love their world emperor or king who has the right to the kingdom as a mother and father. Similarly, devotee souls consider the elevated souls and the great souls who have a right to the kingdom to be their lovely beloved deities and worship them. Those who become part of the eight also become just as great, specially beloved deities. The royal status and the worthy-of-worship status are attained in this Brahmin life according to this calculation. For half the cycle, you become those with a royal status and for half the cycle you attain a worthy-of-worship status. So this birth, life and age are for accumulating in your account of accumulation for the whole cycle. This is why you have a slogan: Do you remember it? “If not now, then never!” This has been remembered about this time and this life. This slogan is for Brahmins and it is also to awaken souls without knowledge. If, whilst performing every elevated act and having elevated thoughts, you Brahmin souls always remember “If not now, then never!” what would happen? You would always be strong while doing every elevated task and move forward. As well as that, this slogan also gives you zeal and enthusiasm. You automatically have spiritual awakening. Thoughts of ordinary effort such as “OK, I will do it some time. I have to do it anyway! I have to move along in that way. I have to become that anyway”, would automatically end, because you would have become aware of “If not now, then never!”. “Whatever you want to do, do it now. This is called intense effort.

Sometimes, as the moment changes, even the auspicious thought changes. The enthusiasm with which you might have thought of performing an auspicious task also changes. Therefore, what was the speciality you saw in Father Brahma becoming number one? Not, “At some time”, but, “I have to do it now!” It is said: An instant donation is the greatest charity. If you don’t donate instantly, if you think about it and take time, if you make plans and then make them practical, that would not be called an instant donation. It would simply be called a donation. There is a difference between an instant donation and a donation. An instant donation is a great donation. The fruit of a great donation is great. Whilst you are still thinking about making a thought practical, “OK, I should do this, I will do it. Not now, but I will do it after some time. I will do this much for now”, the time gap between thinking those thoughts and actually putting them into practice gives Maya a chance. BapDada looks at the accounts of the children and sees that Maya comes many times in the tiny gap between you children thinking about something and doing it in practice, and so that set of circumstances changes. For instance, sometimes you think that you will do something with your body and mind. However, initially you thought of it a hundred percent, but by the time you did it, it changed. When there is a time gap, because of the influence of Maya, someone who had thought of giving eight hours, only gives six hours. It would have been reduced by two hours. Circumstances will become such. In the same way, with money too, you would think that you want to give a 100, but then you only give 50, and so that difference is there, because Maya has a margin in between. You then have many thoughts, such as “OK, I will give 50 now and 50 later. It belongs to the Father anyway.” However, whatever is an instant donation of body, mind and wealth is considered to be great charity. You have seen that when they offer a sacrifice, the “mahaprasad” is only what is instant. The animal that is sacrificed instantly with one stroke is considered to be the “mahaprasad”. One who cries out and still thinks about being sacrificed would not be considered to be “mahaprasad”. When they offer a goat as a sacrifice, that goat cries out a lot. What do you do here? You think, “Should I do this or not?” This is thinking about it. One who cries out is not accepted as the “mahaprasad”. Similarly, here too, an instant donation is great charity. The praise of this time is: let your thinking and doing be instantaneous. Do not be left still thinking about it. Sometimes, some of you share such experiences. I also thought about it, but that one did it instead, I didn’t do it. So, those who actually do it receive the reward. Those who keep thinking about it reach the silver age whilst still thinking. They just keep thinking all the time. The waste thought is the one that tells you, “Don’t do it instantly.” There is praise for an auspicious task and an auspicious thought. “An instant donation is great charity.” Sometimes, some children play great games. They have waste thoughts with so much force that they are unable to control them. Then they say, “What can I do? It just happened.” They are unable to stop them. They then do whatever thoughts they had. However, you need controlling power for waste thoughts. You receive multimillion fold fruit of one powerful thought. In the same way, the account of one wasteful thought – such as being sad, being disheartened, losing your happiness, not understanding who you are or not being able to understand yourself – is also experienced in the same way as the multifold return of one. Then, you think, “Well, it was nothing really, but I don’t know why my happiness disappeared! It wasn’t a big thing but it has now been many days since my happiness has been less. I don’t know why I enjoy being alone. I should go away somewhere. However, where would you go? You are not going to go away anywhere alone, that is, without the Father’s company, are you? You may be alone, but don’t be alone and separated from the Father’s company. If you become alone away from the Father’s company, if you become separated in yoga, if you get upset, that is going into a different sect; that is not Brahmin life. You are combined, are you not? The confluence age is the age to stay combined. Such a wonderful couple cannot be found throughout the whole cycle. Even if you were to become Lakshmi and Narayan – that would not be like this wonderful couple, would it? This is why you cannot become separated for even a second from the combined form of the confluence age. As soon as you become separated, you lose. You have experienced this, have you not? What do you do then? You sometimes go to the seaside, sometimes on the roof, sometimes to the mountains. To go there to churn is a different matter. However, don’t go there alone without the Father. Wherever you go, go with Him. This is the promise of Brahmin life. You made this promise when you took birth, did you not? You will remain with Him and go back home with Him. Don’t just go to the forest or to the sea like that. No! You have to stay with Him and go back with Him. This is everyone’s firm promise, is it not? Those who have determination always achieve success. Determination is the key to success. Therefore, you have made this promise firm, have you not? Where there is constant determination there is constant success. If determination is lacking, then success too is less.

What was the speciality you saw in Father Brahma? You saw that he gave an instant donation. Did he ever think about what would happen? It was never, “Let me think about it first, and then I will do it.” No; because he was greatly charitable with his instant donations, he became the number one great soul. Therefore, because he became the number one great soul, he is worshipped as the number one soul in the form of Krishna. This is the only great soul who is also worshipped in his childhood form. You have seen his childhood form, have you not? He is also worshipped in his adolescent form with Radhe: Radhe Krishna; he is remembered and worshipped with the gopes and gopis too. Fourth, in the form of Lakshmi and Narayan. This is the only great soul who is remembered and worshipped in the different ages of his life, and his many forms of activity are also remembered. There is praise of Radhe too, but they never rock her in a cradle like they rock Krishna. They love Krishna. Because she is with Krishna, Radhe’s name is definitely mentioned. Nevertheless, there is a difference between being the second number and the first number. So, what was the reason for becoming number one? Great charity. The greatly charitable soul then became the greatly worthy of worship soul. You were also told earlier that there is a difference in the way that all of you are worshipped. Some deities are worshipped in the right way, whereas others are worshipped just for the sake of it. There is a lot of detail about this. There is a lot of detail about worship too. However, today, Baba is looking at everyone’s account of accumulation. To what extent have you accumulated the treasure of knowledge, the treasure of powers, the treasure of elevated thoughts and the treasure of time? To what extent have you accumulated all of these four treasures? Baba was seeing these accounts. So, now, check your account of all these four things. Then BapDada will also tell you what result He saw. He will tell you what the method is to accumulate in each account, how it is related to attainment and how to accumulate. Baba will tell you about these things later. Do you understand?

Time is limited, is it not? He also comes into the limited. It is not His own body He enters. It is a body that He has taken on loan, and it is a body that is playing a temporary part. This is why Baba also has to consider the time. BapDada also enjoys meeting each child and taking the sweetest spiritual fragrance from each child. BapDada knows all three aspects of time of each child, whereas children just know their present to a greater extent, and they are therefore sometimes like this and sometimes like that. However, because of knowing all three aspects of time, BapDada sees you with the vision of your being the same one from the previous cycle who has a right, that you have all rights. There are some in a little bit of upheaval at present. However those who are fluctuating have to become unshakeable now. He sees your future as elevated. This is why, even though He is seeing the present, He doesn’t see it. So He sees the speciality of every child. Is there anyone who doesn’t have a speciality? The first speciality is that you have reached here. You may not have anything else, but this fortune of personally meeting is no less. You have this speciality, do you not? This is a gathering of special souls. Therefore, BapDada is pleased on seeing the speciality of special souls. Achcha.

To those who constantly have elevated thoughts of donating instantly, which is great charity, to those who always transform “some time” (kab) into “now” (ab), to those who constantly know the blessing of time and fill their aprons with blessings, to those who always follow Father Brahma and who become those who have a right to the elevated kingdom and a right to the elevated status with Father Brahma, to those who constantly remain combined with the Father, to such constant companion children, to the children who always fulfil the responsibility of companionship, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Giving love and remembrance to all the children at the time of farewell.

BapDada is sending love and remembrance to all the children everywhere. All the loving children in every place are moving forward in service with love, and love will always enable you to continue to move forward. You are serving with love and this is why whoever you serve also becomes loving to the Father. Congratulations to all the children for your service and congratulations, not for the hard work (mehnat) but for love (mohabbat), because though they talk of “hard work”, it is actually love. And this is why those who do service while staying in remembrance accumulate for their present and also for their future, and this is why you receive happiness in the service you do now and it is also accumulated for the future. You did not do service but accumulated in your account in the imperishable bank. A little bit of service and you accumulate in the account of accumulation for all time. So what is that service? It is accumulation, is it not? This is why BapDada is sending love and remembrance to all the children. Each one of you has to consider yourself to be a powerful soul and move forward. Therefore, powerful souls always have success. Let each one of you, especially accept love and remembrance personally with your name. (A telex machine was installed in Pandav Bhavan, Delhi) Special congratulations for service to all the children residing in Pandav Bhavan, Delhi, because this facility has been created for service. Congratulations are not for the facility, congratulations are for the service. With these facilities you will continue to do unlimited service forever. With this facility you will happily continue to make BapDada’s message reach the world and this is why BapDada sees how the children have so much zeal, enthusiasm and happiness for service. Always continue to move forward in this happiness. All foreigners are giving a certificate of happiness to Pandav Bhavan. This is called always being ahead in giving hospitality, the same as the Father. You saw how Father Brahma gave so much hospitality. Those who follow in giving this hospitality show (reveal) the Father. You reveal the Father’s name and this is why BapDada is giving love and remembrance on behalf of everyone.

After amrit vela, at 6.00 am, BapDada conducted murli again and gave love and remembrance (25/03/85)

On this day, always consider yourself to be double light and continue to experience the flying stage. While playing the part of being a karma yogi, check your balance of karma and yoga as to whether your karma and remembrance, that is, yoga, were both powerful. If your karma was powerful and your remembrance was less, that is not being balanced. If your remembrance was powerful and your karma was not powerful, then, that too is not being balanced. So, continue to keep a balance between karma and remembrance. By staying in this elevated stage throughout the day you will experience your karmateet stage coming close to you. Throughout the day, you will continue to move along in your karmateet stage or your avyakt angelic stage. Do not go into a stage of down below. Today, do not go down, just stay up above. Even if you do go down due to some weakness, then remind one another, give them power and all of you will experience the highest stage. This is the homework of today’s study. There is more homework and less study.

To those who constantly follow the Father in this way, to those who imbibe the aim of becoming equal to the Father and continue to move forward, to the children who are experienced in the flying stage, BapDada’s love and remembrance from depths of His heart and with lots of love and Good morning.

Blessing: May you be a great soul who gives a vision of closeness to the Father through your sweetness.
Those children who have sweetness in their thoughts, sweetness in their words and sweetness in their deeds are close to the Father, and this is why the Father says to them every day: Sweet, sweet children. The children also respond “Sweet, sweet Baba!” So these sweet words of every day make you full of sweetness. Elevated souls who reveal sweetness are great. Sweetness is greatness. If there isn’t sweetness, then there cannot be the experience of greatness.
Slogan: Perform every task while being double light and you will experience entertainment.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 December 2019

22-12-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 24-03-85 मधुबन

अब नहीं तो कब नहीं

आज लवफुल और लॉ फुल बापदादा सभी बच्चों के खाते को देख रहे थे। हर एक का जमा का खाता कितना है। ब्राह्मण बनना अर्थात् खाता जमा करना क्योंकि इस एक जन्म के जमा किये हुए खाते के प्रमाण 21 जन्म प्रालब्ध पाते रहेंगे। न सिर्फ 21 जन्म प्रालब्ध प्राप्त करेंगे लेकिन जितना पूज्य बनते हो अर्थात् राज्य पद के अधिकारी बनते हो, उसी हिसाब अनुसार आधाकल्प भक्तिमार्ग में पूजा भी राज्य भाग्य के अधिकार के हिसाब से होती है। राज्य पद श्रेष्ठ है तो पूज्य स्वरूप भी इतना ही श्रेष्ठ होता है। इतनी संख्या में प्रजा भी बनती है। प्रजा अपने राज्य अधिकारी विश्व महाराजन वा राजन को मात पिता के रूप से प्यार करती है। इतना ही भक्त आत्मायें भी ऐसे ही उस श्रेष्ठ आत्मा को वा राज्य अधिकारी महान आत्मा को अपना प्यारा ईष्ट समझ पूजा करते हैं। जो अष्ट बनते हैं वह ईष्ट भी इतने ही महान बनते हैं। इस हिसाब प्रमाण इसी ब्राह्मण जीवन में राज्य पद और पूज्य पद पाते हो। आधाकल्प राज्य पद वाले बनते हो और आधाकल्प पूज्य पद को प्राप्त करते हो। तो यह जन्म वा जीवन वा युग सारे कल्प के खाते को जमा करने का युग वा जीवन है इसलिए आप सभी का एक स्लोगन बना हुआ है, याद है? अब नहीं तो कब नहीं। यह इस समय के इसी जीवन के लिए ही गाया हुआ है। ब्राह्मणों के लिए भी यह स्लोगन है तो अज्ञानी आत्माओं के लिए भी सुजाग करने का यह स्लोगन है। अगर ब्राह्मण आत्मायें हर श्रेष्ठ कर्म करने के पहले श्रेष्ठ संकल्प करते हुए यह स्लोगन सदा याद रखें कि अब नहीं तो कब नहीं, तो क्या होगा? सदा हर श्रेष्ठ कार्य में तीव्र बन आगे बढ़ेंगे। साथ-साथ यह स्लोगन सदा उमंग-उत्साह दिलाने वाला है। रूहानी जागृति स्वत: ही आ जाती है। अच्छा फिर कर लेंगे, देख लेंगे। करना तो है ही। चलना तो है ही। बनना भी है ही। यह साधारण पुरुषार्थ के संकल्प स्वत: ही समाप्त हो जाते हैं क्योंकि स्मृति आ गई कि अब नहीं तो कब नहीं। जो करना है वह अब कर लो। इसको कहा जाता है-तीव्र पुरूषार्थ।

समय बदलने से कभी शुभ संकल्प भी बदल जाता है। शुभ कार्य जिस उमंग से करने का सोचा वह भी बदल जाता है इसलिए ब्रह्मा बाप के नम्बरवन जाने की विशेषता क्या देखी? कब नहीं, लेकिन अब करना है। तुरन्त दान महापुण्य कहा जाता है। अगर तुरन्त दान नहीं किया, सोचा, समय लगाया, प्लैन बनाया फिर प्रैक्टिकल में लाया तो इसको तुरन्त दान नहीं कहा जायेगा। दान कहा जायेगा। तुरन्त दान और दान में अन्तर है। तुरन्त दान महादान है। महादान का फल महान होता है क्योंकि जब तक संकल्प को प्रैक्टिकल करने में सोचता है अच्छा करूँ, करूँगा, अभी नहीं, थोड़े समय के बाद करूँगा। अब इतना कर लेता हूँ, यह सोचना और करना इस बीच में जो समय पड़ जाता है उसमें माया को चांस मिल जाता है। बापदादा बच्चों के खाते में कई बार देखते हैं कि सोचने और करने के बीच में जो समय पड़ता है, उस समय में माया आ जाती है तो बात भी बदल जाती है। मानो कभी तन से, मन से सोचते हैं यह करेंगे लेकिन समय पड़ने से जो 100 परसेन्ट सोचते हैं, करने के समय वह बदल जाता है। समय पड़ने से माया का प्रभाव होने के कारण मानो 8 घण्टा लगाने वाला 6 घण्टा लगायेगा। 2 घण्टा कट हो जायेगा। सरकमस्टांस ही ऐसे बन जायेंगे। इस प्रकार धन में सोचेगा 100 करना है और करेगा 50 इतना भी फर्क पड़ जाता है क्योंकि बीच में माया को मार्जिन मिल जाती है। फिर कई संकल्प आते हैं। अच्छा 50 अभी कर लेते हैं, 50 फिर बाद में कर लेंगे। है तो बाप का ही। लेकिन तन-मन-धन सभी का जो तुरन्त दान वह महापुण्य होता है। देखा है ना – बलि भी चढ़ाते हैं तो महाप्रसाद वही होता जो तुरन्त होता। एक धक से झाटकू बनते हैं उसको “महाप्रसाद” कहा जाता है। जो बलि में चिल्लाते-चिल्लाते, सोचते-सोचते रह जाते हैं वह महाप्रसाद नहीं। जैसे वह बकरे को बलि चढ़ाते हैं, वह बहुत चिल्लाता है। यहाँ क्या करते? सोचते हैं, ऐसा करें वा न करें। यह हुआ सोचना। चिल्लाने वाले को कभी भी महाप्रसाद के रूप में स्वीकार नहीं करते हैं। ऐसे ही यहाँ भी तुरन्त दान महापुण्य..यह जो गायन है वह इस समय का है अर्थात् सोचना और करना तुरन्त हो। सोचते-सोचते रह नहीं जावें। कई बार ऐसे अनुभव भी सुनाते हैं। सोचा तो मैंने भी यही था लेकिन इसने कर लिया, मैंने नहीं किया। तो जो कर लेता है वह पा लेता है। जो सोचते-सोचते रह जाता, वह सोचते-सोचते त्रेतायुग तक पहुँच जाता है। सोचते-सोचते रह जाता है। यही व्यर्थ संकल्प है जो तुरन्त नहीं किया। शुभ कार्य शुभ संकल्प के लिए गायन है “तुरन्त दान महापुण्य।” कभी-कभी कोई बच्चे बड़ा खेल दिखाते हैं। व्यर्थ संकल्प इतना फोर्स से आते जो कन्ट्रोल नहीं कर पाते। फिर उस समय कहते, क्या करें हो गया ना। रोक नहीं सकते, जो आया वह कर लिया, लेकिन व्यर्थ के लिए कन्ट्रोलिंग पावर चाहिए। एक समर्थ संकल्प का फल पदमगुणा मिलता है। ऐसे ही एक व्यर्थ संकल्प का हिसाब-किताब – उदास होना, दिलशिकस्त होना वा खुशी गायब होना वा समझ नहीं आना कि मैं क्या हूँ, अपने को भी नहीं समझ सकते – यह भी एक का बहुत गुणा के हिसाब से अनुभव होता है। फिर सोचते हैं कि था तो कुछ नहीं। पता नहीं क्यों खुशी गुम हो गई। बात तो बड़ी नहीं थी लेकिन बहुत दिन हो गये हैं, खुशी कम हो गई है। पता नहीं क्यों अकेलापन अच्छा लगता है! कहाँ चले जावें, लेकिन जायेंगे कहाँ? अकेला अर्थात् बिना बाप के साथ के, अकेला तो नहीं जाना है ना। ऐसे भले अकेले हो जाओ लेकिन बाप के साथ से अकेले कभी नहीं होना। अगर बाप के साथ से अकेले हुए, वैरागी, उदासी यह तो दूसरा मठ है। ब्राह्मण जीवन नहीं। कम्बाइन्ड हो ना। संगमयुग कम्बाइन्ड रहने का युग है। ऐसी वन्डरफुल जोड़ी तो सारे कल्प में नहीं मिलेगी। चाहे लक्ष्मी नारायण भी बन जाएं लेकिन ऐसी जोड़ी तो नहीं बनेगी ना इसलिए संगमयुग का जो कम्बाइन्ड रूप है, यह एक सेकण्ड भी अलग नहीं हो सकता। अलग हुआ और गया। अनुभव है ना ऐसा! फिर क्या करते? कभी सागर के किनारे चले जाते, कभी छत पर, कभी पहाड़ों पर चले जाते। मनन करने के लिए जाओ वह अलग बात है। लेकिन बाप के बिना अकेले नहीं जाना है। जहाँ भी जाओ साथ जाओ। यह ब्राह्मण जीवन का वायदा है। जन्मते ही यह वायदा किया है ना। साथ रहेंगे, साथ चलेंगे। ऐसे नहीं जंगल में वा सागर में चले जाना है। नहीं। साथ रहना है, साथ चलना है। यह वायदा पक्का है ना सभी का। दृढ़ संकल्प वाले सदा सफलता को पाते हैं। दृढ़ता सफलता की चाबी है। तो यह वायदा भी दृढ़ पक्का किया है ना। जहाँ दृढ़ता सदा है वहाँ सफलता सदा है। दृढ़ता कम तो सफलता भी कम।

ब्रह्मा बाप की विशेषता क्या देखी! यही देखी ना तुरन्त दान…कभी सोचा कि क्या होगा? पहले सोचूँ पीछे करूँ, नहीं। तुरन्त दान महा पुण्य के कारण नम्बरवन महान आत्मा बनें इसलिए देखो नम्बरवन महान आत्मा बनने के कारण कृष्ण के रूप में नम्बरवन पूजा हो रही है। एक ही यह महान आत्मा है जिसकी बाल रूप में भी पूजा है। बाल रूप भी देखा है ना। और युवा रूप में राधे कृष्ण के रूप में भी पूजा है, और तीसरा गोप गोपियों के रूप में भी गायन पूजन है। चौथा – लक्ष्मी-नारायण के रूप में। यह एक ही महान आत्मा है जिसके भिन्न-भिन्न आयु के रूप में, भिन्न-भिन्न चरित्र के रूप में गायन और पूजन है। राधे का गायन है लेकिन राधे को बाल रूप में कभी झूला नहीं झुलायेंगे। कृष्ण को झुलाते हैं। प्यार कृष्ण को करते हैं। राधे का साथ के कारण नाम जरूर है। फिर भी नम्बर दो और एक में फर्क तो होगा ना। तो नम्बरवन बनने का कारण क्या बना? महा पुण्य। महान पुण्य आत्मा सो महान पूज्य आत्मा बन गई। पहले भी सुनाया था ना, आप लोगों की पूजा में भी अन्तर होगा। कोई देवी देवताओं की पूजा विधिपूर्वक होती है और कोई की ऐसे काम चलाऊ भी होती है। इसका तो फिर बहुत विस्तार है। पूजा का भी बहुत विस्तार है। लेकिन आज तो सभी के जमा के खाते देख रहे थे। ज्ञान का खजाना, शक्तियों का खजाना, श्रेष्ठ संकल्पों का खजाना कहाँ तक जमा किया है और समय का खजाना कहाँ तक जमा किया है। यह चारों ही खजाने कहाँ तक जमा किये हैं। यह खाता देख रहे थे। तो अभी इन चारों ही बातों का खाता अपना चेक करना। फिर बापदादा भी सुनायेंगे कि रिजल्ट क्या देखी और हर एक खजाने के जमा करने का, प्राप्ति का क्या सम्बन्ध है और कैसे जमा करना है, इन सब बातों पर फिर सुनायेंगे। समझा!

समय तो हद का है ना। आते भी हद में हैं, अपना शरीर भी नहीं। लोन लिया हुआ शरीर और है भी टैप्रेरी पार्ट का शरीर, इसलिए समय को भी देखना पड़ता है। बापदादा को भी हर बच्चे से मिलने में, हर बच्चे की मीठी-मीठी रूहानी खुशबू लेने में मजा आता है। बापदादा तो हर बच्चे के तीनों काल जानते हैं ना। और बच्चे सिर्फ अपने वर्तमान को ज्यादा जानते हैं इसलिए कभी कैसे, कभी कैसे हो जाते हैं। लेकिन बापदादा तीनों कालों को जानने कारण उसी दृष्टि से देखते हैं कि यह कल्प पहले वाला हकदार है। अधिकारी है। अभी सिर्फ थोड़ा सा कोई हलचल में है लेकिन अभी-अभी हलचल, अभी-अभी अचल हो ही जाना है। भविष्य श्रेष्ठ देखते हैं इसलिए वर्तमान को देखते भी नहीं देखते। तो हर एक बच्चे की विशेषता को देखते हैं। ऐसा कोई है जिसमें कोई भी विशेषता न हो! पहली विशेषता तो यही है जो यहाँ पहुँचे हो। और कुछ भी न हो फिर भी सम्मुख मिलने का यह भाग्य कम नहीं है। यह तो विशेषता है ना। यह विशेष आत्माओं की सभा है इसलिए विशेष आत्माओं की विशेषता को बापदादा देख हर्षित होते हैं। अच्छा!

सदा तुरन्त दान महापुण्य के श्रेष्ठ संकल्प वाले, सदा कब को अब में परिवर्तन करने वाले, सदा समय के वरदान को जान वरदानों से झोली भरने वाले, सदा ब्रह्मा बाप को फालो कर ब्रह्मा बाप के साथ श्रेष्ठ राज्य अधिकारी और श्रेष्ठ पद अधिकारी बनने वाले, सदा बाप के साथ कम्बाइन्ड रहने वाले, ऐसे सदा के साथी बच्चों को, सदा साथ निभाने वाले बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

सभी बच्चों को विदाई के समय यादप्यार देते हुए

बापदादा चारों तरफ के सभी बच्चों को यादप्यार भेज रहे हैं। हर एक स्थान के स्नेही बच्चे, स्नेह से सेवा में भी आगे बढ़ रहे हैं और स्नेह सदा आगे बढ़ाता रहेगा। स्नेह से सेवा करते हो इसलिए जिन्हों की सेवा करते हो वह भी बाप के स्नेही बन जाते हैं। सभी बच्चों को सेवा की मुबारक भी हो और मेहनत नहीं लेकिन मुहब्बत की मुबारक हो क्योंकि नाम मेहनत है लेकिन है मुहब्बत इसलिए जो याद में रहकर सेवा करते हैं वह अपना वर्तमान और भविष्य जमा करते हैं इसलिए अभी भी सेवा की खुशी मिलती है और भविष्य में भी जमा होता है। सेवा नहीं की लेकिन अविनाशी बैंक में अपना खाता जमा किया। थोड़ी सी सेवा और सदाकाल के लिए खाता जमा हो जाता। तो वह सेवा क्या हुई? जमा हुआ ना! इसलिए सभी बच्चों को बापदादा यादप्यार भेज रहे हैं। हरेक अपने को समर्थ आत्मा समझ आगे बढ़ो तो समर्थ आत्माओं की सफलता सदा है ही। हरेक अपने-अपने नाम से विशेष यादप्यार स्वीकार करना। (दिल्ली पाण्डव भवन में टैलेक्स लगा है) देहली निवासी पाण्डव भवन के सभी बच्चों को विशेष सेवा की मुबारक। क्योंकि यह साधन भी सेवा के लिए ही बने हैं। साधन की मुबारक नहीं, सेवा की मुबारक हो। सदा इन साधनों द्वारा बेहद की सेवा अविनाशी करते रहेंगे। खुशी-खुशी से विश्व में इस साधन द्वारा बाप का सन्देश पहुंचाते रहेंगे इसलिए बाप-दादा देख रहे हैं कि बच्चों की सेवा का उमंग-उत्साह खुशी कितनी है। इसी खुशी से सदा आगे बढ़ते रहना। पाण्डव भवन के लिए सभी विदेशी खुशी का सर्टीफिकेट देते हैं इसको कहा जाता है बाप समान मेहमान-निवाज़ी में सदा आगे रहना। जैसे ब्रह्मा बाप ने कितनी मेहमान निवाजी करके दिखाई। तो मेहमान निवाजी में फालो करने वाले बाप का शो करते हैं। बाप का नाम प्रत्यक्ष करते हैं इसलिए बापदादा सभी की तरफ से यादप्यार दे रहे हैं।

अमृतवेले 6 बजे बापदादा ने फिर से मुरली चलाई तथा यादप्यार दी – 25-3-85

आज के दिन सदा अपने को डबल लाइट समझ उड़ती कला का अनुभव करते रहना। कर्मयोगी का पार्ट बजाते भी कर्म और योग का बैलेन्स चेक करना कि कर्म और याद अर्थात् योग दोनों ही शक्तिशाली रहे? अगर कर्म शक्तिशाली रहा और याद कम रही तो बैलेन्स नहीं। और याद शक्तिशाली रही और कर्म शक्तिशाली नहीं तो भी बैलेन्स नहीं। तो कर्म और याद का बैलेन्स रखते रहना। सारा दिन इसी श्रेष्ठ स्थिति में रहने से अपनी कर्मातीत अवस्था नजदीक आने का अनुभव करेंगे। सारा दिन कर्मातीत स्थिति वा अव्यक्त फरिश्ते स्वरूप स्थिति में चलते फिरते रहना। और नीचे की स्थिति में नहीं आना। आज नीचे नहीं आना, ऊपर ही रहना। अगर कोई कमजोरी से नीचे आ भी जाये तो एक दो को स्मृति दिलाए समर्थ बनाए सभी ऊंची स्थिति का अनुभव करना। यह आज की पढ़ाई का होमवर्क है। होमवर्क ज्यादा है, पढ़ाई कम है।

ऐसे सदा बाप को फालो करने वाले, सदा बाप समान बनने के लक्ष्य को धारण कर आगे बढ़ने वाले, उड़ती कला के अनुभवी बच्चों को बापदादा का दिल व जान, सिक व प्रेम से यादप्यार और गुडमार्निंग।

वरदान:- मधुरता द्वारा बाप की समीपता का साक्षात्कार कराने वाले महान आत्मा भव
जिन बच्चों के संकल्प में भी मधुरता, बोल में भी मधुरता और कर्म में भी मधुरता है वही बाप के समीप हैं इसलिए बाप भी उन्हें रोज़ कहते हैं मीठे-मीठे बच्चे और बच्चे भी रेसपान्ड देते हैं – मीठे-मीठे बाबा। तो यह रोज़ का मधुर बोल मधुरता सम्पन्न बना देता है। ऐसे मधुरता को प्रत्यक्ष करने वाली श्रेष्ठ आत्मायें ही महान हैं। मधुरता ही महानता है। मधुरता नहीं तो महानता का अनुभव नहीं होता।
स्लोगन:- कोई भी कार्य डबल लाइट बनकर करो तो मनोरंजन का अनुभव करेंगे।

TODAY MURLI 22 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 December 2018 :- Click Here

22/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, by coming to this school, you receive instant attainment. Each jewel of knowledge that the Father gives is property worth hundreds of thousands.
Question: Why does the intoxication that Baba gives you diminish? What is the way for you to keep your intoxication always high?
Answer: Intoxication diminishes when you turn away and see the faces of your relatives and haven’t become destroyers of attachment. In order for you to keep your intoxication always high, learn to have a heart-to-heart conversation with the Father. Baba, I belonged to You. You then sent me to heaven and I experienced happiness for 21 births and then became unhappy. I have now come once again to claim the inheritance of happiness. Become a destroyer of attachment and your intoxication will always remain high.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane. 

Om shanti. Whose words did you hear? The gopes and gopis. To whom do they say it? To the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba. A name is definitely needed. You say: Baba, I belong to You while alive in order to become part of the garland around Your neck. By remembering You alone, I will become part of the garland around Your neck. The rosary of Rudra is very well known. The Father has explained that all souls are part of the rosary of Rudra. This is a spiritual tree. That is a genealogical tree of human beings and this is the tree of souls. The tree has sections – a section for deities, a section for those of Islam, a section for Buddhists. No one else can explain these things. Only the God of the Gita tells you this. He alone is beyond birth and death. He cannot be called ‘One who never takes birth’. It is just that He doesn’t enter the cycle of birth and death. He doesn’t have a physical or a subtle body. In the temples they worship a Shiva lingam. They call that the Supreme Soul. They go in front of the deity idols and sing this praise. They would never say: Salutations to the Supreme Soul Brahma. They always consider Shiva to be the Supreme Soul. They say: Salutations to the Supreme Soul Shiva. That is the incorporeal world, the other is the subtle region and this is the corporeal world. Now, you children know that, here, you aren’t given knowledge of God being omnipresent. If God were also in this one, you would say to him: Salutations to the Supreme Soul. You don’t say, “Salutations to the Supreme Soul”, when He is in a body. In fact, the words used are “Great soul”, “charitable soul” and “sinful soul”. “Great Supreme Soul” is never said. There aren’t even the terms, “Charitable Supreme Soul” or “Sinful Supreme Soul”. These matters have to be understood. Only you children know that, by coming to this school, you receive the attainment of instant fruit. Through this study, we will become deities in the future. No one else can say this. You are the ones who change from human beings into deities. Lakshmi and Narayan are the well-known ones among the deities. This is why people speak of the story of the true Narayan. There would definitely be Lakshmi with Narayan. They don’t say: The story of the true Rama. They say: It is the story of the true Narayan. Achcha, what will happen through that? Ordinary man will change into Narayan. You would hear the story of a b a rrister from a barrister and become a barrister. You come here for the attainment of your future 21 births. The attainment of the future 21 births is received when it is the confluence age. You know that you have come here to claim your inheritance of the golden-aged kingdom from the Father. However, first of all, there has to be the firm faith that Shiv Baba is your Baba. He is also the Baba of this Brahma. So He is the Dada (Grandfather) of the BKs. This father (Brahma) says: This is not my property. You receive the Grandfather’s property. Shiv Baba has the wealth of the jewels of knowledge. Each jewel is property worth hundreds of thousands. The value of it is so high that no one could have even dreamt of the fortune of a kingdom for 21 births. Although people have been worshipping Lakshmi and Narayan, no one knows how they attained their status. They have said that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years and this is why they are unable to understand anything. You know that it is now 5000 years since they came to rule the kingdom. Then the story is said to begin with the first era: Long, long ago there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in this Bharat. Bharat is called Bahist (Paradise), heaven. This is not in anyone’s intellect. You children now know that the duration of a cycle is 5000 years. Whatever is written in those scriptures is fixed in the drama. There has been no result by listening to them. They celebrate so much. There is just one Jagadamba, but they make so many idols of her. So, Saraswati, Jagadamba is the daughter of Brahma. It isn’t that she has eight or ten arms. The Father says: All of that is the vast paraphernalia of the path of devotion. There is none of that in knowledge. You just have to remain in silence and remember the Father. There are many daughters who have never even seen Baba. They write: Baba, You don’t know me, but I know You very well. You are the same Baba. I will definitely claim my inheritance from You. Many have visions even while sitting at home. Even though some don’t have visions, they continue to write. While in remembrance they become completely absorbed in love. The Father alone is the Bestower of Salvation. You should love Him so much. Children completely cling to their parents because the parents give their children happiness. However, parents of today don’t give happiness; they trap the children in vices even more. The Father says: Past is past. You are now receiving guidance: Children, leave aside the things of the sword of lust and become pure because you now have to go to the land of Krishna. There is the kingdom of Krishna in the golden age. They have portrayed Krishna in the copper age. It isn’t that the prince of the golden age would come and speak the Gita in the copper age. He has to become Shri Narayan and rule in the golden age. God speaks: At this time, all human beings have devilish natures. The God of the Gita comes to make them into those with divine natures. Instead of the Father’s name, they have inserted the name of the child and they have then shown that child in the copper age. This too is a big mistake. Then they cannot prove the existence of the Yadavas and the Pandavas at that time. The Father says: Children, you belonged to the elevated deity clan, and so why has your condition now become like this? I am now once again making you into deities. Human beings cannot make human beings into the kings of heaven. Human beings would not establish heaven. It is such a big mistake to call a soul the Supreme Soul. Sannyasis cannot change human beings into deities. This is the work of the Father alone. Those who belong to the Arya Samaj would make others into those who belong to the Arya Samaj. Christians would make others into Christians. Whomever you go to, they would make you the same as themselves. The deity religion exists in the golden age, and so the Father has to come at the confluence age. This is the Mahabharat War and, through this war, there will be your victory. After destruction, there will be cries of victory. You know that destruction is definitely going to take place. Today, when someone is seated on a throne, they don’t take long to dethrone him. Would you call this heaven? This is complete hell. It is a mistake to call it heaven. People are so unhappy. If someone is born today, there is great joy and happiness. However, if someone dies, there is sorrow. Here, you have to become a destroyer of attachment to everyone. Otherwise, Baba would never tell you to go out on service. Baba says: I have destroyed attachment. Why should I have attachment to anything? I am not a householder. You children know that this haystack truly is going to be set on fire. Destruction doesn’t take long. When you give a lecture, tell them to come and claim their inheritance from the unlimited Father. You receive a limited inheritance from your limited father. You have taken 63 births in this hell. I have come to give you the inheritance of heaven for 21 births. So, is the inheritance of Ravan good or is that of Rama good? If the inheritance of Ravan is good, then why do you burn his effigy? Do you ever burn Shiv Baba? Krishna’s effigy is never burnt. This is the community of Ravan. All are born through vice. This is the brothel, the ocean of poison. That is the viceless Shivalaya, the ocean of nectar. They show Vishnu lying in an ocean of milk, but there cannot be an ocean of milk. Milk comes from a cow. They say that God is omnipresent and then they say “Shivohum” (I am Shiva) because they remain pure. However, they don’t say to others: God is in you, or: God is not in you because you are impure. The soul says: I am now being made pure by the Supreme Father, the Supreme Soul and then, when I am pure, I will rule the kingdom. You have received and lost the inheritance countless times. The cycle of the drama is now in your intellects. The Father explains: All of you are Parvatis and I am Shiva. The stories etc. refer to here. There are no stories etc. in the subtle region. You are told the story of immortality to make you into the masters of the land of immortality. That is the land of immortality. There is nothing but happiness there. In the land of death, there is sorrow from the beginning through the middle to the end. All of this is explained to you so well. The efforts of those who claimed their inheritance from the Father in the previous cycle also continue now. However many missionaries there have been up to the present time, there were just as many missionaries previously too. Although Baba says that you are slack in service, He also says that you are doing the same service that you did in the previous cycle. Nevertheless, you have to continue to make effort. Storms make the small earthenware lamps flicker. The Boatman of everyone is the one Father. There is the saying: Take my boat across… The destiny of the drama is created in this way. All will go to the old world. There are only a few here. There are so few of you. Although there will be many at the end, there is the difference of day and night. All of them are the community of Ravan. The Father makes your intoxication rise very high. However, when you see the faces of your friends and family, that intoxication decreases. It shouldn’t happen like that. It is said to souls: Have a heart-to-heart conversation with the Father. Baba, I belonged to You. You sent me to heaven. I ruled a kingdom for 21 births and then attained sorrow for 63 births. I will now definitely claim my inheritance from You. Baba, You are so good! I forgot You for half the cycle. Baba says: This drama is predestined. It is also My duty to come every cycle and liberate you children from Maya and then make you into Brahmins and tell you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. I come when I have to create heaven. You are now becoming angels. You are given visions of purity. You also have to become destroyers of attachment. If someone says to Baba: Baba, should I go on service? Baba would say: If you have destroyed attachment, you are a master, you can go where you want. Why are you confused? You are a master; you have to show the path to the blind. It is because you haven’t destroyed your attachment that you ask. If you had destroyed attachment, you would run; you wouldn’t be able to stay here. The destination is high. The Father surrenders Himself to the serviceable children. This Baba was the first number. Everyone had renunciation, but this one was the first number. Baba says: Become soul conscious, that is, consider yourself to be bodiless. The unlimited Father is giving you the inheritance for 21 births. Achcha, how does He come? It is written: Creation is created through the mouth of Brahma and so He would surely enter Brahma. Brahma alone is called Prajapita. Therefore, come and claim your inheritance from that unlimited Father. There is no question of being embarrassed about explaining these things. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Like Father Brahma, you have to claim a number ahead in renunciation. In order to become part of the garland around the neck of Rudra, you have to surrender yourself while alive.
  2. In order to become serviceable , become a destroyer of attachment. Show the path to the blind.
Blessing: May you be a constantly contented soul who remains free from the illness of body and mind with blessings and medicine.
Even if the body is sometimes not well, do not let your mind become disturbed by any illness of the body. Constantly continue to dance in happiness and your body will become fine. Make your body work with the happiness of your mind and you will exercise both. Happiness is the blessing and exercise is the medicine. So, with both the blessing and the medicine, you will become free from illness of body and mind. With happiness you will forget your pain. In order to be constantly content with your body and mind, do not think too much. By thinking too much time is wasted and your happiness disappears.
Slogan: Practise seeing the essence in the expansion and your stage will always be constant and stable.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 December 2018

To Read Murli 21 December 2018 :- Click Here
22-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस पाठशाला में आने से तुम्हें प्रत्यक्षफल की प्राप्ति होती है, एक-एक ज्ञान रत्न लाखों की मिलकियत है, जो बाप देते हैं”
प्रश्नः- बाबा जो नशा चढ़ाते हैं, वह हल्का क्यों हो जाता है? नशा सदा चढ़ा रहे उसकी युक्ति क्या है?
उत्तर:- नशा हल्का तब होता है जब बाहर जाकर कुटुम्ब परिवार वालों का मुख देखते हो। नष्टोमोहा नहीं बने हो। नशा सदा चढ़ा रहे उसके लिए बाप से रूहरिहान करना सीखो। बाबा, हम आपके थे, आपने हमें स्वर्ग में भेजा, हमने 21 जन्म सुख भोगा फिर दु:खी हुए। अब हम फिर से सुख का वर्सा लेने आये हैं। नष्टोमोहा बनो तो नशा चढ़ा रहे।
गीत:- मरना तेरी गली में……. 

ओम् शान्ति। यह किसके बोल सुने? गोप गोपियों के। किसके लिए कहते हैं? परमपिता परमात्मा शिवबाबा के लिए। नाम तो जरूर चाहिए ना। कहते हैं – बाबा, आपके गले का हार बनने के लिये जीते जी हम आपका बनते हैं। आपको ही याद करने से हम आपके गले का हार बनेंगे। रुद्र माला तो प्रसिद्ध है। बाप ने समझाया है सब आत्मायें रुद्र की माला है। यह रूहानी झाड़ है। वह है जीनालॉजिकल मनुष्यों का झाड़, यह है आत्माओं का झाड़। झाड़ में सेक्शन भी हैं। देवी-देवताओं का सेक्शन, इस्लामियों का सेक्शन, बौद्धियों का सेक्शन। यह बातें और कोई समझा नहीं सकते। गीता का भगवान् ही सुनाते हैं। वही जन्म-मरण रहित है। उनको अजन्मा नहीं कह सकते। सिर्फ जन्म-मरण में आने वाला नहीं है। उनका स्थूल वा सूक्ष्म शरीर नहीं है। मन्दिरों में भी शिवलिंग को ही पूजते हैं, उनको ही परमात्मा कहते हैं। देवताओं के आगे ही जाकर महिमा गाते हैं। ब्रह्मा परमात्माए नम: कभी नहीं कहेंगे। शिव को ही हमेशा परमात्मा समझते हैं। शिव परमात्मा नम: कहेंगे। वह है मूलवतन, वह सूक्ष्मवतन और यह है स्थूल वतन।

अभी तुम बच्चे जानते हो कि यहाँ वह ज्ञान नहीं कि परमात्मा सर्वव्यापी है। यदि इनमें भी परमात्मा हो तो फिर इनको परमात्मा नम: कहा जाए। शरीर में होते परमात्मा नम: नहीं कहते। वास्तव में अक्षर ही है महान् आत्मा, पुण्य आत्मा, पाप आत्मा……। महान् परमात्मा नहीं कहा जाता। पुण्य परमात्मा वा पाप परमात्मा अक्षर भी नहीं है। यह तो समझने की बातें है ना। सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो कि इस पाठशाला में आने से प्रत्यक्षफल देने वाली प्राप्ति होती है। इस पढ़ाई से हम भविष्य में देवी-देवता बनेंगे और कोई ऐसा कह नहीं सकते। मनुष्य से देवता तो तुम बनते हो। देवताओं में प्रसिद्ध हैं लक्ष्मी-नारायण इसलिए सत्य नारायण की कथा कहते हैं। नारायण के साथ लक्ष्मी तो जरूर होगी। सत राम की कथा नहीं कहते। सत नारायण की कथा कहते हैं। अच्छा, उससे क्या होगा? नर से नारायण बनेंगे। बैरिस्टर द्वारा बैरिस्टर की कथा सुन बैरिस्टर बनेंगे। यहाँ तुम आते ही हो भविष्य 21 जन्मों की प्राप्ति के लिए। भविष्य 21 जन्मों की प्राप्ति भी तब होती है जब संगमयुग होता है। तुम जानते हो हम आये हैं बाप से सतयुगी राजधानी का वर्सा लेने। लेकिन पहले तो यह पक्का निश्चय चाहिए कि शिवबाबा हमारा बाबा है। इस ब्रह्मा का भी वह बाबा है। तो बी.के. का दादा हुआ। यह बाप कहते हैं यह मेरी प्रापर्टी नहीं है। दादा की प्रापर्टी तुमको मिलती है। शिवबाबा के पास ज्ञान रत्नों का धन है। एक-एक रत्न लाखों की मिलकियत है। इसकी कीमत इतनी भारी है जो 21 जन्म के लिए राज्य भाग्य कोई के स्वप्न में भी नहीं होगा। लक्ष्मी-नारायण आदि की पूजा तो भल करते आये हैं परन्तु यह किसको पता नहीं कि इन्होंने यह पद कैसे पाया? सतयुग की आयु लाखों वर्ष कह दी है इसलिए कुछ समझ नहीं सकते हैं। अभी तुम जानते हो उन्हों को राज्य किये 5 हजार वर्ष हुए। फिर एक संवत से शुरू हुई कहानी कही जाती है। लांग-लांग एगो…….. इस भारत में ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारत को बहिश्त, स्वर्ग कहा जाता है। यह किसकी बुद्धि में नहीं है। अभी तुम बच्चे जानते हो कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। इन शास्त्रों में जो लिखा है यह सब भी ड्रामा में नूंध है। इन्हें सुनने से परिणाम कुछ भी नहीं निकला। कितने शादमाने करते हैं। जगत अम्बा है तो एक ही परन्तु उनकी मूर्तियां कितनी बनाते हैं। तो जगत अम्बा सरस्वती ब्रह्मा की बेटी है। बाकी 8-10 भुजायें तो हैं नहीं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग की बड़ी सामग्री है। ज्ञान में तो यह कुछ नहीं है, चुप रहना है। बाप को याद करना है। ऐसी बहुत बच्चियां हैं जिन्होंने कभी देखा भी नहीं। लिखती हैं बाबा आप हमको पहचानते नहीं हो लेकिन मैं अच्छी रीति जानती हूँ। आप वही बाबा हो, हम आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। घर बैठे भी बहुतों को साक्षात्कार होते हैं। भल साक्षात्कार न भी हो तो भी लिखती रहती हैं। याद में एकदम लवलीन हो जाती हैं। बाप ही सद्गति दाता है, उनको कितना प्यार करना चाहिए। माँ-बाप से बच्चे एकदम लिपट जाते हैं क्योंकि माँ-बाप बच्चों को सुख देते हैं। लेकिन आजकल के माँ-बाप कोई सुख नहीं देते हैं और ही विकारों में फंसा देते हैं। बाप कहते हैं – पास्ट इज़ पास्ट। अब तुमको शिक्षा मिलती है – बच्चे, काम कटारी की बातें छोड़ पवित्र बनो क्योंकि अभी तुम्हें कृष्णपुरी में चलना है। कृष्ण का राज्य है ही सतयुग में। मनुष्यों ने कृष्ण को द्वापर में दिखा दिया है। ऐसे थोड़ेही सतयुग का प्रिन्स द्वापर में आकर गीता सुनायेंगे। उनको तो श्री नारायण बन सतयुग में राज्य करना है।

भगवानुवाच – इस समय सभी मनुष्यमात्र आसुरी स्वभाव वाले हैं। उनको दैवी स्वभाव वाला बनाने गीता का भगवान् आते हैं। उस बाप के बदले बच्चे का नाम लिख दिया है जिस बच्चे को फिर द्वापर में ले आये हैं। यह भी बड़ी भूल है। फिर तो यादव और पाण्डव सिद्ध न हों। तो बाप कहते हैं – बच्चे, तुम तो ऊंच दैवी कुल के थे फिर तुम्हारा यह हाल क्यों हुआ है? अब फिर तुमको देवता बनाता हूँ। मनुष्य, मनुष्य को स्वर्ग का राजा नहीं बना सकते। मनुष्य थोड़ेही स्वर्ग की स्थापना करेंगे। आत्मा को परमात्मा कहना कितनी बड़ी भूल है। सन्यासी तो मनुष्य से देवता बना न सके। यह तो बाप का ही काम है। आर्य समाजी, आर्य समाजी बनायेंगे। क्रिश्चियन, क्रिश्चियन बनायेंगे। ऐसे जिसके पास तुम जायेंगे वह वैसा ही बनायेंगे। देवता धर्म है ही सतयुग में, तो बाप को संगम पर आना पड़े। यह महाभारत युद्ध है, इस लड़ाई द्वारा ही तुम्हारी विजय होती है। विनाश के बाद फिर जय-जयकार होगी। तुम तो जानते हो विनाश भी जरूर होने वाला है। आज कोई तख्त पर बैठा तो उनको उतारने में देरी थोड़ेही करते हैं। क्या इसको स्वर्ग कहेंगे? यह तो पूरा नर्क है। इसको स्वर्ग कहना तो भूल है। मनुष्य कितने दु:खी हैं। आज कोई जन्मा तो खुशी-सुख और मरा तो दु:ख। यहाँ तो सबसे नष्टोमोहा होना पड़े। नहीं तो बाबा सर्विस पर जाने के लिए कभी नहीं कहेंगे। बाबा कहते मैं तो नष्टोमोहा हूँ। किसी चीज़ में मोह क्यों रखूँ। मैं कोई गृहस्थी थोड़ेही हूँ।

तुम बच्चे जानते हो बरोबर इस भंभोर को आग लगनी है, विनाश में देरी थोड़ेही लगती है। तुम कहाँ भाषण करते हो तो समझाते हो कि आकर बेहद के बाप से वर्सा लो। हद के बाप से हद का वर्सा मिलता है। तुमने 63 जन्म इस नर्क में लिये हैं। मैं 21 जन्म लिए तुमको स्वर्ग का वर्सा देने आया हूँ। अब रावण का वर्सा अच्छा या राम का? अगर रावण का अच्छा है तो उनको जलाते क्यों हो? शिवबाबा को कभी जलाते हो क्या? कृष्ण को थोड़ेही जलाते हैं। यह तो है ही रावण सम्प्रदाय। विकार से पैदा होते हैं। यह है वेश्यालय, विषय सागर। वह है वाइसलेस, शिवालय, अमृत सागर। क्षीर सागर में विष्णु को दिखाते हैं ना। अब क्षीर का सागर थोड़ेही होता है। दूध तो गऊ से निकलता है। अब देखो कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है फिर अपने को शिवोहम् कहते क्योंकि खुद पवित्र रहते, दूसरे को ऐसे थोड़ेही कहते – तुम्हारे में ईश्वर है, तुम्हारे में नहीं है क्योंकि तुम पतित हो। आत्मा कहती है मैं अभी परमपिता परमात्मा द्वारा पावन बन रही हूँ, फिर पावन बन राज्य करेंगे। तुमने अनेक बार वर्सा लिया और गंवाया है। यह ड्रामा का चक्र बुद्धि में बैठ गया है। बाप समझाते हैं तुम सब पार्वतियां हो, मैं शिव हूँ। कथा आदि यहाँ की बात है, सूक्ष्मवतन में तो कथा आदि होती नहीं। अमरकथा तुमको सुनाते हैं अमरपुरी का मालिक बनाने। वह है अमरलोक, वहाँ तो सुख ही सुख है, मृत्युलोक में आदि-मध्य-अन्त दु:ख है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। जिन्होंने कल्प पहले बाप से वर्सा लिया था, उन्हों का ही अब पुरुषार्थ चलता है। इस समय तक जो मिशनरी चलती है, पहले भी इतनी चली थी। भल बाबा कहते हैं तुम सर्विस ठण्डी करते हो, परन्तु यह भी समझाते हैं कि कल्प पहले जो तुमने सर्विस की थी वही करते हो। पुरुषार्थ फिर भी करते रहना है। छोटे-छोटे दीपकों को तूफान हिला देंगे। खिवैया तो सबका एक बाप ही है। कहावत भी है – नईया मेरी पार लगाओ…… ड्रामा की भावी ऐसी बनी हुई है। सब उस पुरानी दुनिया तरफ जा रहे हैं। यहाँ हैं थोड़े। तुम कितने थोड़े हो। भल पिछाड़ी में बहुत होंगे तो भी रात-दिन का फ़र्क है। वह सारी रावण सम्प्रदाय है। बाप नशा तो बहुत चढ़ाते हैं फिर बाहर कुटुम्ब परिवार का मुँह देखा तो नशा हल्का हो जाता है। ऐसा होना नहीं चाहिए। आत्माओं को कहा जाता है तुम बाप से रूहरिहान करो – बाबा, हम आपके थे, आपने स्वर्ग में भेजा था। 21 जन्म राज्य किया फिर 63 जन्म दु:ख पाया। अब हम आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। बाबा, आप कितने अच्छे हो। हम आपको आधाकल्प भूल गये थे। बाबा कहते यह तो आनादि बना-बनाया ड्रामा है। मेरी भी यह ड्युटी है। मैं कल्प-कल्प आकर तुम बच्चों को माया से लिबरेट कर ब्राह्मण बनाए सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुनाता हूँ। मैं आता ही तब हूँ जब स्वर्ग बनाना है। तुम अब फरिश्ते बन रहे हो। प्योरिटी का भी साक्षात्कर कराते हैं। तुमको नष्टोमोहा भी बनना है। बाबा को अगर कोई कहते हैं- बाबा, हम सर्विस पर जायें? तो बाबा कहेंगे – अगर तुम नष्टोमोहा हो तो मालिक हो, जहाँ चाहे जाओ। मूंझते क्यों हो। मालिक हो, अन्धों को राह बतानी है। नष्टोमोहा नहीं हैं तब पूछते हैं। नष्टोमोहा हो तो यह भागे, वह ठहर न सकें। बड़ी मंज़िल है। बाप सर्विसएबुल बच्चों पर कुर्बान जाते हैं। पहले नम्बर में तो यह बाबा था ना। त्याग तो सब करते हैं परन्तु फिर भी इनका फर्स्ट नम्बर है।

बाबा कहते हैं देही-अभिमानी बनो अर्थात् अपने को अशरीरी समझो। बेहद का बाप तुमको 21 जन्मों का वर्सा देते हैं। अच्छा, वह आये कैसे? लिखा भी हुआ है – ब्रह्मा के मुख से रचना रचते हैं तो जरूर ब्रह्मा में ही आयेंगे। ब्रह्मा को ही प्रजापिता कहा जाता है तो उस बेहद के बाप से आकर वर्सा लो। यह बातें समझाने में लज्जा की तो कोई बात नहीं है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ब्रह्मा बाप समान त्याग में नम्बर आगे जाना है। रुद्र के गले का हार बनने के लिए जीते जी बलिहार जाना है।

2) सर्विसएबुल बनने के लिए नष्टोमोहा बनना है। अन्धों को राह बतानी है।

वरदान:- दुआ और दवा द्वारा तन-मन की बीमारी से मुक्त रहने वाले सदा सन्तुष्ट आत्मा भव
कभी शरीर बीमार भी हो तो शरीर की बीमारी से मन डिस्टर्ब न हो। सदैव खुशी में नाचते रहो तो शरीर भी ठीक हो जायेगा। मन की खुशी से शरीर को चलाओ तो दोनों एक्सरसाइज हो जायेंगी। खुशी है दुआ और एक्सरसाइज है दवाई। तो दुआ और दवा दोनों से तन मन की बीमारी से मुक्त हो जायेंगे। खुशी से दर्द भी भूल जायेगा। सदा तन-मन से सन्तुष्ट रहना है तो ज्यादा सोचो नहीं। अधिक सोचने से टाइम वेस्ट होता है और खुशी गायब हो जाती है।
स्लोगन:- विस्तार में भी सार को देखने का अभ्यास करो तो स्थिति सदा एकरस रहेगी।
Font Resize