daily murli 21 september

TODAY MURLI 21 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 September 2020

21/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father, the Ocean of Love, gives you your inheritance of love at the confluence age. Therefore, give love to everyone and never become angry.
Question: What path does the Father show you to keep your register good?
Answer: The Father shows you the path of love. He gives you shrimat: Children, interact with everyone with love. Do not cause sorrow for anyone. Never perform any wrong acts with your physical senses. Always check: Do I have any devilish traits? Am I moody? Do I become upset over anything?
Song: Time is passing by.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. Day by day, we are coming closer to our home that is, to our destination. Don’t now be careless about what shrimat says. We receive the Father’s direction to give everyone the message. You children understand that you have to give the message to hundreds of thousands. The time will come when they will come. When many come they will then give the messageto many more. Everyone is going to receive the Father’s message. This message is very easy. Simply tell them: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Don’t perform any bad acts with your physical senses, in your thoughts, words or deeds. First it enters your mind and then it’s put into words. You now need the intellects to understand right from wrong: This is an act of charity, I have to do this. If there is any thought in your heart of becoming angry, each of you has an intellect that knows that if you become angry it would be a sin. By remembering the Father you become a charitable soul. It shouldn’t be that you do something wrong and then say it won’t happen again. By continuing to say that, it becomes a habit. Human beings perform such acts and yet they don’t think that they are sins. They don’t think that indulging in vice is a sin. The Father has now told you that that is the greatest sin. You have to gain victory over that and give everyone the Father’s message, which is that the Father says: Remember Me, because death is standing in front of you. When someone is about to die, he is told: Remember God, the Father! Remember God,the Father! They think that he is going to God, the Father, but they don’t understand what happens by remembering God, the Father,or where that soul goes. That soul leaves a body and takes another. No one can go to God, the Father. Therefore, you children need to have imperishable remembrance of the eternal Father. When people become tamopradhan and unhappy, they say to one another: Remember God,the Father. All souls say this to one another. It is souls that say this, is it not? It is not the Supreme Soul that says this. Souls say to souls: Remember the Father! This is a common system. At the time of death they remember God because there is fear of God. They believe that God gives the fruit of good and bad acts. If you have performed bad acts, God gives a lot of punishment through Dharamraj, the Supreme Judge. This is why there is fear. There is definitely the suffering of karma. You children now understand the significance of action, neutral action and sinful action. You know that those acts are neutral acts. The acts you perform while in remembrance are good acts. People in the kingdom of Ravan only perform bad acts. In the kingdom of Rama, there can never be bad acts. You now continue to receive shrimat. Continue to ask for advice in regard to everything. When you are invited somewhere, ask whether you should go or not. For example, if someone works as a policeman, he is told: First explain with love. If they don’t tell the truth, you can then use force. By explaining with love they may own up. However, if that love is filled with the power of yoga, anyone will understand when you explain with the power of love; it would be as though God is explaining. You children of God are yogis, are you not? You also have Godly power. God is the Ocean of Love. He has this power, does He not? He gives you all that inheritance. You know that there is a great deal of love in the golden age. You are now claiming the full inheritance of love. While claiming this and making effort, numberwise, you will become lovely. The Father says: Don’t cause anyone sorrow, otherwise you will die in sorrow. The Father shows you the path of love. When something enters your mind, it also appears on the face and if it is performed through your physical senses, your register is spoilt. The character and activities of the deities are praised. This is why Baba says: Explain to the worshippers of the deities. They sing the praise: You are full of all virtues, 16 celestial degrees full. Then, they also speak of their own character and behaviour. Tell them: You were like that, but you are not that now, though you will definitely become that again. If you want to become like those deities, make your character like theirs and you will become like them. Check yourself: Have I become completely viceless? Do I have any devilish traits? Do I become upset or moody in any way? You have made this effort innumerable times. The Father says: You have to become like that. The One who is making you become like that is also present. He says: Cycle after cycle, I make you become like that. Those who took knowledge a cycle ago will definitely come and take it. You are inspired to make effort and you are also carefree. The drama is fixed in this way. Some say: If it’s in the drama I will definitely do it. If I have that part, the drama will make me do it. It is understood from this that it is not in their fortune. At the beginning, there was someone who became upset; it wasn’t in his fortune. He said: If it’s in the drama, then the drama will inspire me to make effort! Then he left. You come across many like that. Your aim and objective is in front of you. You each have a badge. Just as you look at your chart, in the same way, look at your badge. Look at your behaviour and your character. Never have criminal eyes. Never allow anything evil to emerge from your lips. If no one says anything evil, how could your ears hear anything evil? In the golden age, everyone has divine virtues. There is nothing evil there. They too will have claimed their reward from the Father. Tell everyone: Remember the Father and your sins will be absolved. There is no loss in this. Each soul carries his sanskars with him. Someone who is a sannyasi will go into the sannyas religion. Their tree continues to grow. At this time you are changing. It is human beings who change into deities. Not everyone will come down together; they will come down, numberwise. In a play, actors do not come onto the stage until it is their turn; they remain backstage. When it is their time, they come onto the stage to play their parts. Those dramas are limited whereas this drama is unlimited. It is in your intellects that you are actors and that you have to play your parts at your right time. This is an unlimited huge tree. You come and go, numberwise. At first there was only one religion. Not all religions can come first. Those of the deity religion will come down first to play their parts. That too is numberwise. You have to understand the secrets of the tree. The Father comes and explains the knowledge of the whole kalpa tree. This tree is then compared to the incorporeal tree. Only the one Father says: I am the Seed of the human world tree. The tree is not merged in the Seed, but the knowledge of the tree is merged in the Seed. Everyone has his own part to play. This is a living tree. The leaves on this tree will also emerge, numberwise. No one understands this tree. The Seed of this tree is up above. This is why it is called an inverted tree. The Father, who is the Creator, is up above. You know that we have to go home to the place where souls reside. We now have to become pure and return home. It is through your power of yoga that the whole world becomes pure. A pure world is needed for you. When you become pure, the world has to be made pure. Everyone becomes pure. It is now in your intellects that the mind and the intellect are in the soul. Souls are living. It is souls that imbibe knowledge. Therefore, sweetest children, your intellects should understand the whole secret of how you take rebirth. When your cycle of 84 births comes to an end, so does the cycle of everyone else. Everyone becomes pure. This drama is eternal. It doesn’t stop for even a second. Whatever happens, second by second, repeats after a cycle. Every soul has an imperishable part recorded in him. Those actors play their parts for two to four hours. However, souls receive natural parts. Therefore, you children should have so much happiness. The praise of supersensuous joy is of this confluence age. The Father comes and gives us constant happiness for 21 births. This is something to be happy about, is it not? Those who understand well and explain well remain engaged in service. When some children get angry, that anger also creates anger in others; it takes two hands to clap! It isn’t like that there. Here, you children receive teachings. If someone gets angry, shower him with flowers. Explain to him with love that anger is an evil spirit; it causes a great deal of loss. Never get angry! There shouldn’t be any anger in anyone who is teaching. Everyone continues to make effort, numberwise. Some make intense effort and others are slack in their efforts. Those who are slack in their efforts definitely have themselves defamed. Wherever those who have anger go, they will be made to leave. Those with a bad character will not be able to stay here. When the examination finishes, it will become known who becomes what; you will have visions of everything. Each one is praised according to his activity. You children know the beginning, middle and end of the drama. All of you are those who know the things within (antaryami). The soul within you knows how the world cycle turns. You have the knowledge of the activity and character of the human beings of the whole world and the knowledge of all the religions too. This is known as being antaryami, the soul knowing everything. It isn’t that God resides in every place. What need would there be for Him to know all of that? Even now, He tells us: Whatever effort you make, you will receive the reward of that accordingly. What need is there for Me to know all of that? Whatever someone does, he will experience the punishment for that. If your behaviour is like that, you will claim a very degraded status; your status will be very low. In a worldly school, if you don’t pass, you have to study for another year. However, this study is for cycle after cycle. If you don’t study now, you will not study every cycle. You should claim the full Godly lottery, should you not? Only you children understand these things. When Bharat is the land of happiness, everyone else will be in the land of peace. You children should have so much happiness that your days of happiness are now here. When the days of Deepmala come close, people have so much happiness because only a few more days then remain before they will wear new clothes. You also say that heaven is coming. If we decorate ourselves, we will experience a lot of happiness in heaven. The wealthy have intoxication of their wealth. Human beings are in deep sleep. They will then suddenly realize that you were telling the truth. They will understand the truth when they have the company of the Truth. You are now in the company of the Truth. You become true through the true Father. All of them become false in the company of falsehood. You have now had the contrast printed between what God says and what human beings say. You can also put that in the magazine. Ultimately, victory will be yours. Those who claimed a status before will definitely claim it again. This is certain. There, there is no untimely death. Your lifespan is long. When there was purity, the lifespan was long. The Father is the Purifier, so He would surely have made everyone pure. It doesn’t seem right to say this of Krishna. Where would Krishna come from at this elevated confluence age? There is no human being with those same features; 84 births, 84 features, 84 activities are all predestined in the drama. There can be no difference in that. How wonderful this drama is that has been created! Each soul is a tiny point of light and has an eternal part recorded in him. This is called the wonder of nature. When people hear this, they will be struck withwonder. However, first give them the message that they have to remember the Father. He alone is the Purifier, the Bestower of Salvation for All. In the golden age, there is no mention of sorrow. There is so much sorrow in the iron age. However, those who understand these things are numberwise. The Father explains every day. You children understand that Shiv Baba has come to teach us and that He will then take us back home with Him. Those who are in bondage have more remembrance than those who live here with Baba. They can claim an elevated status. These matters have to be understood. Some are so desperate in Baba’s remembrance. The Father says: Children, remain on the pilgrimage of remembrance of the Father and imbibe divine virtues and your bondage will end. The urn of sin will be finished. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your character and behaviour like that of a deity. Don’t speak any evil words. Your eyes must never become criminal.
  2. The evil spirit of anger causes a great deal of damage. It takes two hands to clap. Therefore, if someone gets angry, move away from him. Explain to him with love.
Blessing: May you become an avyakt angel who makes the atmosphere powerful with your spiritual endeavour of the angelic form.
The way to make the atmosphere powerful is to make spiritual endeavour with your angelic form. Pay attention to this again and again because, however you make spiritual endeavour, you pay attention to that. So, to make spiritual endeavour of the avyakt form means that you have to do the tapasya of paying attention. Therefore, keep the blessing of becoming an avyakt angel in your awareness and do the tapasya of making the atmosphere powerful. Then, whoever comes in front of you will go beyond anything physical and all wasteful matters.
Slogan: In order to reveal the Almighty Authority Father, increase the power of concentration.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

21-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – संगम पर तुम्हें प्यार का सागर बाप प्यार का ही वर्सा देते हैं, इसलिए तुम सबको प्यार दो, गुस्सा मत करो”
प्रश्नः- अपने रजिस्टर को ठीक रखने के लिए बाप ने तुम्हें कौन सा रास्ता बताया है?
उत्तर:- प्यार का ही रास्ता बाप तुम्हें बतलाते हैं, श्रीमत देते हैं बच्चे हर एक के साथ प्यार से चलो। किसी को भी दु:ख नहीं दो। कर्मेन्द्रियों से कभी भी कोई उल्टा कर्म नहीं करो। सदा यही जाँच करो कि मेरे में कोई आसुरी गुण तो नहीं हैं? मूडी तो नहीं हूँ? कोई बात में बिगड़ता तो नहीं हूँ?
गीत:- यह वक्त जा रहा है……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। दिन-प्रतिदिन अपना घर अथवा मंजिल नज़दीक होती जाती है। अब जो कुछ श्रीमत कहती है, उसमें ग़फलत न करो। बाप का डायरेक्शन मिलता है कि सबको मैसेज पहुँचाओ। बच्चे जानते हैं लाखों करोड़ों को यह मैसेज देना है। फिर कोई समय आ भी जायेंगे। जब बहुत हो जायेंगे तो बहुतों को मैसेज देंगे। बाप का मैसेज मिलना तो सबको है। मैसेज है बहुत सहज। सिर्फ बोलो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो और कोई भी कर्मेन्द्रियों से मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई बुरा काम नहीं करना है। पहले मन्सा में आता है तब वाचा में आता है। अभी तुमको राइट-रांग समझने की बुद्धि चाहिए, यह पुण्य का काम है, यह करना चाहिए। दिल में संकल्प आता है गुस्सा करें, अब बुद्धि तो मिली है-अगर गुस्सा करेंगे तो पाप बन जायेगा। बाप को याद करने से पुण्य आत्मा बन जायेंगे। ऐसे नहीं अच्छा अभी हुआ फिर नहीं करेंगे। ऐसे फिर-फिर कहते रहने से आदत पड़ जायेगी। मनुष्य ऐसा कर्म करते हैं तो समझते हैं यह पाप नहीं है। विकार को पाप नहीं समझते हैं। अभी बाप ने बताया है – यह बड़े से बड़ा पाप है, इन पर जीत पाना है और सबको बाप का मैसेज देना है कि बाप कहते हैं मुझे याद करो, मौत सामने खड़ा है। जब कोई मरने पर होते हैं तो उनको कहते हैं – गॉड फादर को याद करो। रिमेम्बर गॉड फादर। वह समझते हैं यह गॉड फादर पास जाते हैं। परन्तु वो लोग यह तो जानते नहीं कि गॉड फादर को याद करने से क्या होगा? कहाँ जायेंगे? आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। गॉड फादर के पास तो कोई जा न सके। तो अब तुम बच्चों को अविनाशी बाप की अविनाशी याद चाहिए। जब तमोप्रधान दु:खी बन जाते हैं तब तो एक-दो को कहते हैं गॉड फादर को याद करो, सब आत्मायें एक-दो को कहती हैं, कहती तो आत्मा है ना। ऐसे नहीं कि परमात्मा कहते हैं। आत्मा, आत्मा को कहती है – बाप को याद करो। यह एक कॉमन रसम है। मरने समय ईश्वर को याद करते हैं। ईश्वर का डर रहता है। समझते हैं अच्छे वा बुरे कर्मों का फल ईश्वर ही देते हैं, बुरा कर्म करेंगे तो ईश्वर धर्मराज द्वारा बहुत सज़ा देंगे इसलिए डर रहता है, बरोबर कर्मों की भोगना तो होती है ना। तुम बच्चे अभी कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को समझते हो। जानते हो यह कर्म अकर्म हुआ। याद में रह जो कर्म करते हैं वह अच्छे करते हैं। रावण राज्य में मनुष्य बुरे कर्म ही करते हैं। राम राज्य में बुरा काम कभी होता नहीं। अब श्रीमत तो मिलती रहती है। कहाँ बुलावा होता है, यह करना चाहिए वा नहीं करना चाहिए – हर बात में पूछते रहो। समझो कोई पुलिस की नौकरी करते हैं तो उन्हें भी कहा जाता-तुम पहले प्यार से समझाओ। सच्ची न करे तो बाद में मार। प्यार से समझाने से हाथ आ सकते हैं परन्तु उस प्यार में भी योगबल भरा होगा तो उस प्यार की ताकत से कोई को भी समझाने से समझेंगे, यह तो जैसे ईश्वर समझाते हैं। तुम ईश्वर के बच्चे योगी हो ना। तुम्हारे में भी ईश्वरीय ताकत है। ईश्वर प्यार का सागर है, उनमें ताकत है ना। सबको वर्सा देते हैं। तुम जानते हो स्वर्ग में प्यार बहुत होता है। अभी तुम प्यार का पूरा वर्सा ले रहे हो। लेते-लेते नम्बरवार पुरुषार्थ करते-करते प्यारे बन जायेंगे।

बाप कहते हैं-किसको भी दु:ख नहीं देना है, नहीं तो दु:खी होकर मरेंगे। बाप प्यार का रास्ता बताते हैं। मन्सा में आने से वह शक्ल में भी आ जाता है। कर्मेन्द्रियों से कर लिया तो रजिस्टर खराब हो जायेगा। देवताओं की चाल-चलन का गायन करते हैं ना इसलिए बाबा कहते हैं-देवताओं के पुजारियों को समझाओ। वह महिमा गाते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण हो और अपनी चाल-चलन भी सुनाते हैं। तो उनको समझाओ तुम ऐसे थे, अब नहीं हो फिर होंगे जरूर। तुमको ऐसा देवता बनना है तो अपनी चाल ऐसी रखो, तो तुम यह बन जायेंगे। अपनी जांच करनी है-हम सम्पूर्ण निर्विकारी हैं? हमारे में कोई आसुरी गुण तो नहीं हैं? कोई बात में बिगड़ता तो नहीं हूँ, मूड़ी तो नहीं बनता हूँ? अनके बार तुमने पुरूषार्थ किया है। बाप कहते हैं तुमको ऐसा बनना है। बनाने वाला भी हाज़िर है। कहते हैं कल्प-कल्प तुमको ऐसा बनाता हूँ। कल्प पहले जिन्होंने ज्ञान लिया है वह जरूर आकर लेंगे। पुरूषार्थ भी कराया जाता है और बेफिक्र भी रहते हैं। ड्रामा की नूँध ऐसी है। कोई कहते हैं-ड्रामा में नूँध होगी तो जरूर करेंगे। अच्छा चार्ट होगा तो ड्रामा करायेगा। समझा जाता है – उनकी तकदीर में नहीं है। पहले-पहले भी एक ऐसे बिगड़ा था, तकदीर में नहीं था-बोला ड्रामा में होगा तो ड्रामा हमको पुरूषार्थ करायेगा। बस छोड़ दिया। ऐसे तुमको भी बहुत मिलते हैं। तुम्हारा एम ऑब्जेक्ट तो यह खड़ा है, बैज तो तुम्हारे पास है, जैसे अपना पोतामेल देखते हो तो बैज को भी देखो, अपनी चाल-चलन को भी देखो। कभी भी क्रिमिनल ऑखें न हों। मुख से कोई ईविल बात न निकले। ईविल बोलने वाला ही नहीं होगा तो कान सुनेंगे कैसे? सतयुग में सब दैवीगुण वाले होते हैं। ईविल कोई बात नहीं। इन्होंने भी प्रालब्ध बाप द्वारा ही पाई है। यह तो सबको बोलो बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। इसमें नुकसान की कोई बात नहीं है। संस्कार आत्मा ले जाती है। सन्यासी होगा तो फिर सन्यास धर्म में आ जायेगा। झाड़ तो उनका बढ़ता रहता है ना। इस समय तुम बदल रहे हो। मनुष्य ही देवता बनते हैं। सब कोई इकट्ठे थोड़ेही आयेंगे। आयेंगे फिर नम्बरवार, ड्रामा में कोई बिगर समय एक्टर थोड़ेही स्टेज पर आ जायेंगे। अन्दर बैठे रहते हैं। जब समय होता है तो बाहर स्टेज़ पर आते हैं पार्ट बजाने। वह है हद का नाटक, यह है बेहद का। बुद्धि में है हम एक्टर्स को अपने समय पर आकर अपना पार्ट बजाना है। यह बेहद का बड़ा झाड़ है। नम्बरवार आते जाते हैं। पहले-पहले एक ही धर्म था सभी धर्म वाले तो पहले-पहले आ न सकें।

पहले तो देवी-देवता धर्म वाले ही आयेंगे पार्ट बजाने, सो भी नम्बरवार। झाड़ के राज़ को भी समझना है। बाप ही आकर सारे कल्प वृक्ष का ज्ञान सुनाते हैं। इनकी भेंट फिर निराकारी झाड़ से होती है। एक बाप ही कहते हैं मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीज मैं हूँ। बीज में झाड़ समाया हुआ नहीं है लेकिन झाड़ का ज्ञान समाया हुआ है। हर एक का अपना-अपना पार्ट है। चैतन्य झाड़ है ना। झाड़ के पत्ते भी नम्बरवार निकलेंगे। इस झाड़ को कोई भी समझते नहीं हैं, इनका बीज ऊपर में है इसलिए इनको उल्टा वृक्ष कहा जाता है। रचयिता बाप है ऊपर में। तुम जानते हो हमको जाना है घर, जहाँ आत्मायें रहती हैं। अभी हमको पवित्र बनकर जाना है। तुम्हारे द्वारा योगबल से सारी विश्व पवित्र हो जाती है। तुम्हारे लिए तो पवित्र सृष्टि चाहिए ना। तुम पवित्र बनते हो तो दुनिया भी पवित्र बनानी पड़े। सब पवित्र हो जाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है, आत्मा में ही मन-बुद्धि है ना। चैतन्य है। आत्मा ही ज्ञान को धारण कर सकती है। तो मीठे-मीठे बच्चों को यह सारा राज़ बुद्धि में होना चाहिए-कैसे हम पुनर्जन्म लेते हैं। 84 का चक्र तुम्हारा पूरा होता है तो सबका पूरा होता है। सब पावन बन जाते हैं। यह अनादि बना हुआ ड्रामा है। एक सेकण्ड भी ठहरता नहीं है। सेकण्ड बाई सेकण्ड जो कुछ होता है, सो फिर कल्प बाद होगा। हर एक आत्मा में अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। वह एक्टर्स करके 2-4 घण्टे का पार्ट बजाते हैं। यह तो आत्मा को नैचुरल पार्ट मिला हुआ है तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। अतीन्द्रिय सुख अभी संगम का ही गाया हुआ है। बाप आते हैं, 21 जन्मों के लिए हम सदा सुखी बनते हैं। खुशी की बात है ना। जो अच्छी रीति समझते और समझाते हैं वह सर्विस पर लगे रहते हैं। कोई बच्चे खुद ही अगर क्रोधी हैं तो दूसरे में भी प्रवेशता हो जाती है। ताली दो हाथ की बजती है। वहाँ ऐसे नहीं होता। यहाँ तुम बच्चों को शिक्षा मिलती है – कोई क्रोध करे तो तुम उन पर फूल चढ़ाओ। प्यार से समझाओ। यह भी एक भूत है, बहुत नुकसान कर देंगे। क्रोध कभी नहीं करना चाहिए। सिखलाने वाले में तो क्रोध बिल्कुल नहीं होना चाहिए। नम्बरवार पुरुषार्थ करते रहते हैं। किसका तीव्र पुरूषार्थ होता है, किसका ठण्डा। ठण्डे पुरूषार्थ वाले जरूर अपनी बदनामी करेंगे। कोई में क्रोध है तो जहाँ जाते हैं वहाँ से निकाल देते हैं। कोई भी बदचलन वाले रह नहीं सकते। इम्तहान जब पूरा होगा तो सबको पता पड़ेगा। कौन-कौन क्या बनते हैं, सब साक्षात्कार होगा। जो जैसा काम करते हैं, उनकी ऐसी महिमा होती है।

तुम बच्चे ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। तुम सब अन्तर्यामी हो। आत्मा अन्दर में जानती है – यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। सारे सृष्टि के मनुष्यों की चाल-चलन का, सब धर्मों का तुम्हें ज्ञान है। उनको कहा जायेगा – अन्तर्यामी। आत्मा को सब मालूम पड़ गया। ऐसे नहीं, भगवान घट-घट वासी है, उनको जानने की क्या दरकार है? वो तो अभी भी कहते हैं जो जैसा पुरुषार्थ करेंगे ऐसा फल पायेंगे। मुझे जानने की क्या दरकार है। जो करता है उसकी सज़ा भी खुद पायेंगे। ऐसी चलन चलेंगे तो अधम गति को पायेंगे। पद बहुत कम हो जायेगा, उस स्कूल में तो नापास हो जाते हैं तो फिर दूसरे वर्ष पढ़ते हैं। यह पढ़ाई तो होती है कल्प-कल्पान्तर के लिए। अब न पढ़े तो कल्प-कल्पान्तर नहीं पढ़ेंगे। ईश्वरीय लॉटरी तो पूरी लेनी चाहिए ना। यह बातें तुम बच्चे समझ सकते हो। जब भारत सुखधाम होगा तब बाकी सब शान्तिधाम में होंगे। बच्चों को खुशी होनी चाहिए-अब हमारे सुख के दिन आते हैं। दीपमाला के दिन नज़दीक होते हैं तो कहते हैं ना बाकी इतने दिन हैं फिर नये कपड़े पहनेंगे। तुम भी कहते हो स्वर्ग आ रहा है, हम अपना श्रृंगार करें तो फिर स्वर्ग में अच्छा सुख पायेंगे। साहूकार को तो साहूकारी का नशा रहता है। मनुष्य बिल्कुल घोर नींद में हैं फिर अचानक पता पड़ेगा-यह तो सच कहते थे। सच को तब समझें जब सच का संग हो। तुम अभी सच के संग में हो। तुम सत बनते हो सत बाप द्वारा। वह सब असत्य बनते हैं, असत्य द्वारा। अभी कान्ट्रास्ट भी छपा रहे हैं कि भगवान क्या कहते हैं और मनुष्य क्या कहते हैं। मैगजीन में भी डाल सकते हो। आखरीन विजय तो तुम्हारी ही है, जिन्होंने कल्प पहले पद पाया है वह जरूर पायेंगे। यह सरटेन है। वहाँ अकाले मृत्यु होता नहीं। आयु भी बड़ी होती है। जब पवित्रता थी तो बड़ी आयु थी। पतित-पावन परमात्मा बाप है तो जरूर उसने ही पावन बनाया होगा। कृष्ण की बात शोभती नहीं। पुरूषोत्तम संगमयुग पर कृष्ण फिर कहाँ से आयेगा। वही फीचर्स वाला मनुष्य तो फिर होता नहीं। 84 जन्म, 84 फीचर्स, 84 एक्टिविटी-यह बना-बनाया खेल है। उसमें फ़र्क नहीं पड़ सकता। ड्रामा कैसा वन्डरफुल बना हुआ है। आत्मा छोटी बिन्दी है, उसमें अनादि पार्ट भरा हुआ है – इसको कुदरत कहा जाता है। मनुष्य सुनकर वन्डर खायेंगे। परन्तु पहले तो यह पैगाम देना है कि बाप को याद करो। वही पतित-पावन है, सर्व का सद्गति दाता है। सतयुग में दु:ख की बात होती नहीं। कलियुग में तो कितना दु:ख है। परन्तु यह बातें समझने वाले नम्बरवार हैं। बाप तो रोज़ समझाते रहते हैं। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा आया हुआ है हमको पढ़ाने, फिर साथ ले जायेंगे। साथ में रहने वालों से भी बांधेलियाँ ज्यादा याद करती हैं। वह ऊंच पद पा सकती हैं। यह भी समझ की बात है ना। बाबा की याद में बहुत तड़फती हैं। बाप कहते हैं बच्चे याद की यात्रा में रहो, दैवीगुण भी धारण करो तो बन्धन कटते जायेंगे। पाप का घड़ा खत्म हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रुहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी चाल-चलन देवताओं जैसी बनानी है। कोई भी ईविल बोल मुख से नहीं बोलने हैं। यह आंखें कभी क्रिमिनल न हों।

2) क्रोध का भूत बहुत नुकसान करता है। ताली दो हाथ से बजती है इसलिए कोई क्रोध करे तो किनारा कर लेना है, उन्हें प्यार से समझाना है।

वरदान:- अव्यक्त स्वरूप की साधना द्वारा पावरफुल वायुमण्डल बनाने वाले अव्यक्त फरिश्ता भव
वायुमण्डल को पावरफुल बनाने का साधन है अपने अव्यक्त स्वरूप की साधना। इसका बार-बार अटेन्शन रहे क्योंकि जिस बात की साधना की जाती है उसी बात का ध्यान रहता है। तो अव्यक्त स्वरूप की साधना अर्थात् बार-बार अटेन्शन की तपस्या चाहिए इसलिए अव्यक्त फरिश्ता भव के वरदान को स्मृति में रख शक्तिशाली वायुमण्डल बनाने की तपस्या करो तो आपके सामने जो भी आयेगा वह व्यक्त और व्यर्थ बातों से परे हो जायेगा।
स्लोगन:- सर्व शक्तिमान् बाप को प्रत्यक्ष करने के लिए एकाग्रता की शक्ति को बढ़ाओ।

TODAY MURLI 21 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 20 September 2019:- Click Here

21/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this study of yours is your source of income. Through this study, you arrange an income for 21 births.
Question: Is it an income or a loss to go to the land of liberation?
Answer: For devotees, it is an income because, for half the cycle, they have been asking for peace. Even after making a lot of effort, they haven’t found peace. They are now to receive peace from the Father, that is, they are to go to the land of liberation. So, that is the fruit of their efforts of half the cycle. This is why that too is said to be an income, not a loss. You children are making effort to go to the land of liberation in life. You now have the history and geography of the whole world dancing in your intellects.

Om shanti. The spiritual Father has explained to you sweetest children that it is the spirit that understands everything. At this time, the Father is to take you children to the spiritual world. That is called the spiritual deity world and this is called the physical world, the world of human beings. You children understand that there was the deity world. That was a pure world of divine human beings. Human beings now are impure and this is why they praise and worship those deities. You have the awareness that, in the tree, there is truly first just the one religion. You have to explain the picture of the tree too when you explain the variety-form image. The Seed of this tree is up above. The Father is the Seed of the tree. As is the seed, so the fruit, that is, the leaves that emerge from it. This too is a wonder. Such a tiny thing gives so much fruit! Its form continues to change so much. No one knows this human world tree. This is called the kalpa tree. This is only mentioned in the Gita. Everyone knows that the Gita is the scripture of the number one religion. Scriptures too are numberwise just as religions are established numberwise. Only you children understand this. No one else has this knowledge. It is in your intellects what religion is first in the tree, and then how the other religions grow. This is called the huge drama. The whole tree is in the intellects of you children. The main thing is how the tree grows. The trunk of the deities doesn’t exist now. All the branches and twigs are still standing there, but the foundation of the original eternal deity religion doesn’t exist. It is remembered that the original eternal deity religion is established and that all the other religions are destroyed. You now know that the deity tree will be very small. At that time, none of the other religions will exist. The tree is small at first and then it continues to grow. It has gradually grown and has now become so big. Its lifespan is now over. The example of the banyan tree is very good to explain this. This is also the knowledge of the Gita. The Father sits here and personally speaks this to you through which you become the kings of kings. Then, on the path of devotion, the Gita scripture etc. will be written again. This drama is eternally predestined. The same will happen again. Then, whichever religion is established, it will have its own scripture. The Sikh religion will have its own scripture and the Christians and Buddhists will have their own scriptures. The history and geography of the whole world is now dancing in your intellects. The intellect is dancing the dance of knowledge. You know the whole tree and how the religions come and how the tree grows and how our one religion is then established and everything else is destroyed. They sing: When the Sun of Knowledge rises…. Now there is total darkness. There are now so many human beings but not all of them will exist here at that time. They did not exist in the kingdom of Lakshmi and Narayan. The one religion has to be established once again. Only the Father comes and speaks this knowledge. You children come and study so much knowledge to earn an income. The Father comes here as the Teacher and so the arrangement for your income for half the cycle is made and you become very wealthy. You know that you are now studying. This is the study of the imperishable jewels of knowledge. Devotion is not said to be of the imperishable jewels of knowledge. Through whatever they study on the path of devotion, there is only loss; they don’t become jewels. Only the one Father is called the Ocean of the Jewels of Knowledge. The other is devotion. There is no aim or objective there. There is no income there. They study at school to earn an income. Then, they go to a guru to perform devotion. Some adopt a guru at a young age and others adopt a guru in their old age. Some adopt renunciation at a young age. So many people go to the kumbha mela. None of that will exist in the golden age. You children now have all of these things in your awareness. You now know the Creator and the beginning, middle and end of creation. They have lengthened the duration of the cycle. They have said that God is omnipresent. They don’t have any knowledge at all. The Father comes and awakens you from the sleep of ignorance. You are now continuing to imbibe knowledge. Your batteries continue to be charged. Through knowledge there is an income and through devotion, there is a loss. When the time of your loss ends, the Father comes to inspire you to earn an income. To go into liberation is also an income. Everyone continues to ask for peace. While saying, “O Bestower of Peace””, their intellects go to the Father. They say: There should be peace in the world, but no one knows how that will happen. The land of peace is separate from the land of happiness. They don’t even know that. Even the one who was number one didn’t know anything. You now have all the knowledge. You know that you have come to play your parts of acting on this field of action. Where did you come from? From brahmlok. You came from the incorporeal world to this corporeal world to play your parts. We souls are residents of another place. These bodies of the five elements remain here. It is only when we have bodies that we are able to speak. We are living actors. You would no longer say that you don’t know the beginning, middle and end of this drama. Previously, you didn’t know it. You neither knew your Father nor your home or form accurately. You now know how souls continue to play their parts. You have remembered this. Previously, you didn’t remember this. You know that only the true Father tells you the truth through which you become the masters of the land of truth. They have written of the Truth in the Sukhmani (Hymn of Peace), part of the Sikh Granth. The land of truth is called the truth. All the deities are those who speak the truth. It is the Father who teaches you the truth. Look how much He is praised! The praise of Him that is remembered is useful to you. People praise Shiv Baba. He alone knows the beginning, middle and end of the tree. The Father tells you the truth and so you children become truthful. The land of truth is also created. Bharat was the land of truth. This is the number one, highest-on-high pilgrimage place because the Father who grants salvation to everyone only comes in Bharat. The one religion is established and everything else is destroyed. The Father has explained to you that there is nothing in the subtle region. All of those things are just visions that people have. They have visions on the path of devotion too. If there were no visions, how could all of those temples etc. have been built? Why does worshipping take place? They have visions and feel that those beings are in the living form. The Father explains: All the temples etc. that are built on the path of devotion, everything that you have seen and heard, will repeat. The cycle continues to turn. The play of knowledge and devotion has been created. It is always said: Knowledge, devotion and disinterest. However, they don’t know any of the detail at all. The Father sits here and explains that knowledge is the day and devotion is the night. Disinterest is in the night and then it becomes the day. There is sorrow in devotion and that is why there is disinterest in that. You cannot say that there is disinterest in happiness. Renunciation too is adopted because of sorrow. They believe that there is happiness in purity. That is why they renounce their wives and leave them. Nowadays, they have even become wealthy, because one cannot receive happiness without wealth. Maya attacks them and brings them back from the jungles into the cities. Vivekananda and Ramakrishna were two great sannyasis who existed in the past. Ramakrishna had the power of renunciation, but it was Vivekananda who explained and practiced everything about devotion. They both have religious books. When someone writes a book, he sits in total concentration. When Ramakrishna was writing his biography, he told his disciple to go and sit far away. He was a very strict sannyasi who was very well known. The Father does not say that you have to call your wife your mother. The Father says: Consider her too to be a soul. All souls are brothers. The matter of sannyasis is separate. He (Ramakrishna) considered his wife to be his mother. He praised his mother. This is the path of knowledge. Disinterest is something else. Because of disinterest, he considered his wife to be his mother. There cannot be a criminal eye when the word “mother” is used. With the relationship of sister, there can be criminal vision. There would never be any bad thoughts about a mother. A father can also have criminal vision for his daughter, but there would never be any criminal vision about a mother. Therefore, the sannyasi began to consider his wife to be his mother. In connection with him they don’t ask: How would the world continue? How would creation take place? That was one person who had disinterest and he considered his wife to be his mother. Look how much he is praised! Here, the vision of many is pulled even with the awareness of brother and sister. This is why Baba says: Consider yourselves to be brothers. This is a matter of knowledge. That is a matter of just one person. Here, there are many brothers and sisters who are the children of Prajapita Brahma. The Father sits here and explains everything to you. This one has also studied the scriptures etc. That religion of the path of isolation is a different one. That is just for men. That is limited disinterest whereas you have disinterest in the whole unlimited world. The Father only comes at the confluence age and explains unlimited things to you. You now have to have disinterest in this old world. This is a very dirty and impure world. Bodies here cannot be pure. Only in the golden age will souls receive new bodies. Although the soul becomes pure here, his body still remains impure until he reaches his karmateet stage. When alloy is mixed into gold, the jewellery made from that is also mixed with alloy. When the alloy is removed, the jewellery will also be of real gold. Both souls and bodies of Lakshmi and Narayan are satopradhan. You souls and your bodies are both tamopradhan and ugly. Souls have become ugly by sitting on the pyre of lust. The Father says: I come and make you beautiful from ugly. All of these are aspects of knowledge; there is no question of water etc. All have become impure by sitting on the pyre of lust. Therefore, a rakhi is tied so that you make a promise to become pure. The Father says: I am speaking to souls. I am the Father of souls, the One you have been continually remembering: Baba, come and take us to the land of happiness! Remove our sorrow! In the iron age, there is limitless sorrow. The Father explains: You have become ugly and tamopradhan by sitting on the pyre of lust. I have now come to take you off the pyre of lust and seat you on the pyre of knowledge. You now have to become pure and go to heaven. You have to remember the Father. The Father pulls you. When a couple came to Baba, one of them felt that pull whereas the other one didn’t. The husband instantly said, “I will become pure in this final birth and not climb onto the pyre of lust.” That doesn’t mean that there was faith. If there were faith, they would write a letter to the unlimited Father and maintain a connection. Baba has heard that they remain pure, but that they remain totally engrossed in their own business. They don’t have any remembrance of the Father. You should remember such a Father a great deal. Husband and wife have so much love for one another. A wife remembers her husband so much! The unlimited Father should be remembered the most. There is a song: Whether you love me or reject me, I will never let go of Your hand. It isn’t that you have to come and live here. That would be renunciation. It would mean that you leave your home and family and come and stay here. You are told: Stay at home with your family and become pure. This furnace had to be created at the beginning through which so many became ready to go and serve. There is a very good story about them. Those who belonged to the Father and stayed there in the yagya but didn’t do any spiritual service will go and become maids and servants. They will receive a crown, at the end, numberwise, according to their efforts. There are their clans too; they cannot become part of the subjects. A person from outside cannot become an insider. Those of the Valbhachari sect never allow outsiders to come inside. All of these matters have to be understood. Knowledge is of only a second. So, why is the Father called the Ocean of Knowledge? He continues to explain to you and will continue to explain to you till the end. When the kingdom is established, you will reach your karmateet stage. Then, the knowledge will end. It is a matter of just a second, but it still has to be explained. You receive a limited inheritance from a limited father whereas the unlimited Father makes you into the masters of the world. You will go to the land of happiness and all the rest will go to the land of peace. There, there is nothing but happiness. The Father has come and we have the guarantee that we are becoming the masters of the new world by studying Raj Yoga. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have unlimited disinterest in this dirty and impure world and make full effort to make the soul pure. Stay attracted to the one Father alone.
  2. Charge your battery by imbibing knowledge. Make yourself wealthy with the jewels of knowledge. It is now the time to earn an income. Therefore, save yourself from any loss.
Blessing: May you have double attainment by having a double relationship with the Father and the Bestower of Blessings and become a constantly powerful soul.
All the powers are inheritance from the Father and blessings from the Bestower of Blessings. The Father and the Bestower of Blessings: with this double relationship, all of you children have this elevated attainment from your birth. From your birth, the Father makes you His child and a master of all powers. Along with that, at the moment of your birth as the Bestower of Blessings, He makes you into a master almighty authority and gives you the blessing of, “May you have all powers.” By receiving this double right from One, you become constantly powerful.
Slogan: To become detached from your body and, along with that, to become detached from your old nature and sanskars is to be bodiless.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 September 2019

To Read Murli 20 September 2019:- Click Here
21-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी यह पढ़ाई सोर्स ऑफ इनकम है, इस पढ़ाई से 21 जन्मों के लिए कमाई का प्रबन्ध हो जाता है”
प्रश्नः- मुक्तिधाम में जाना कमाई है या घाटा?
उत्तर:- भक्तों के लिए यह भी कमाई है क्योंकि आधाकल्प से शान्ति-शान्ति मांगते आये हैं। बहुत मेहनत के बाद भी शान्ति नहीं मिली। अब बाप द्वारा शान्ति मिलती है अर्थात् मुक्तिधाम में जाते हैं तो यह भी आधाकल्प की मेहनत का फल हुआ इसलिए इसे भी कमाई कहेंगे, घाटा नहीं। तुम बच्चे तो जीवन-मुक्ति में जाने का पुरूषार्थ करते हो। तुम्हारी बुद्धि में अभी सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जाग्रॉफी नाच रही है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप ने यह तो समझाया है कि रूह ही सब कुछ समझती है। इस समय तुम बच्चों को रूहानी दुनिया में बाप ले जाते हैं। उनको कहा जाता है रूहानी दैवी दुनिया, इसको कहा जाता है जिस्मानी दुनिया, मनुष्यों की दुनिया। बच्चे समझते हैं दैवी दुनिया थी, वह दैवी मनुष्यों की पवित्र दुनिया थी। अभी मनुष्य अपवित्र हैं इसलिए उन देवताओं का गायन पूजन करते हैं। यह स्मृति है कि बरोबर पहले झाड़ में एक ही धर्म होगा। विराट रूप में झाड़ पर भी समझाना है। इस झाड़ का बीजरूप ऊपर में है। झाड़ का बीज है बाप, फिर जैसा बीज वैसा फल अर्थात् पत्ते निकलते हैं। यह भी वन्डर है ना। कितनी छोटी चीज़ कितना फल देती है। कितना उनका रूप बदलता जाता है। इस मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ को कोई नहीं जानता, इसको कहा जाता है कल्प वृक्ष, इसका बस गीता में ही वर्णन है। सब जानते हैं गीता ही नम्बरवन धर्म का शास्त्र है। शास्त्र भी नम्बरवार तो होते हैं ना। कैसे नम्बरवार धर्मों की स्थापना होती है, यह भी सिर्फ तुम ही समझते हो, और कोई में भी यह ज्ञान होता नहीं। तुम्हारी बुद्धि में है पहले-पहले किस धर्म का झाड़ होता है फिर उनमें और धर्मों की वृद्धि कैसे होती है। इसको कहा जाता है विराट नाटक। बच्चों की बुद्धि में सारा झाड़ है। झाड़ की उत्पत्ति कैसे होती है, मुख्य बात है यह। देवी-देवताओं का झाड़ अभी नहीं है और सब टाल-टालियां खड़ी हैं। बाकी आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं। यह भी गायन है – एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं, बाकी और सब धर्म विनाश हो जाते हैं। अभी तुम जानते हो कितना छोटा-सा दैवी झाड़ होगा। फिर और सब इतने धर्म होंगे ही नहीं। झाड़ पहले छोटा होता है फिर बड़ा होता जाता है। बढ़ते-बढ़ते अभी कितना बड़ा हो गया है। अभी इनकी आयु पूरी होती है, इनसे बनेन ट्री का मिसाल बहुत अच्छा समझाते हैं। यह भी गीता का ज्ञान है जो बाप तुम्हें सम्मुख बैठ सुनाते हैं, जिससे तुम राजाओं का राजा बनते हो। फिर भक्ति मार्ग में यह गीता शास्त्र आदि बनेंगे। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। फिर भी ऐसे ही होगा। फिर जो-जो धर्म स्थापन होंगे उनका अपना शास्त्र होगा। सिक्ख धर्म का अपना शास्त्र, क्रिश्चियन और बौद्धियों का अपना शास्त्र होगा। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी नाच रही है। बुद्धि ज्ञान डांस कर रही है। तुम सारे झाड़ को जान गये हो। कैसे-कैसे धर्म आते हैं, कैसे वृद्धि को पाते हैं। फिर अपना एक धर्म स्थापन होता है, बाकी खलास हो जाते हैं। गाते हैं ना – ज्ञान सूर्य प्रगटा…. अभी बिल्कुल अन्धियारा है ना। कितने ढेर मनुष्य हैं, फिर यह इतने सब होंगे ही नहीं। इन लक्ष्मी-नारायण के राज्य में यह थे नहीं। फिर एक धर्म स्थापन होना ही है। यह नॉलेज बाप ही आकर सुनाते हैं। तुम बच्चे कमाई के लिए कितनी नॉलेज आकर पढ़ते हो। बाप टीचर बनकर आते हैं तो आधाकल्प तुम्हारी कमाई का प्रबन्ध हो जाता है। तुम बहुत धनवान बन जाते हो। तुम जानते हो अभी हम पढ़ रहे हैं। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों की पढ़ाई। भक्ति को अविनाशी ज्ञान रत्न नहीं कहेंगे। भक्ति में मनुष्य जो कुछ पढ़ते हैं, उनसे घाटा ही होता है। रत्न नहीं बनते। ज्ञान रत्नों का सागर एक बाप को ही कहा जाता है। बाकी वह है भक्ति। उसमें कोई भी एम आब्जेक्ट है नहीं। कमाई है नहीं। कमाई के लिए तो स्कूल में पढ़ते हैं। फिर भक्ति करने के लिए गुरू के पास जाते हैं। कोई जवानी में गुरू करते हैं, कोई बुढ़ापे में गुरू करते हैं। कोई छोटेपन में ही सन्यास ले लेते हैं। कुम्भ के मेले पर कितने ढेर आते हैं। सतयुग में तो यह कुछ भी नहीं होगा। तुम बच्चों की स्मृति में सब बातें आ गई हैं। रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को तुम जान गये हो। उन्होंने तो कल्प की आयु ही बड़ी कर दी है। ईश्वर सर्वव्यापी कह दिया है। ज्ञान का पता नहीं है। बाप आकर अज्ञान नींद से सुजाग करते हैं। अभी तुमको ज्ञान की धारणा होती जाती है। बैटरी भरती जाती है। ज्ञान से है कमाई, भक्ति से है घाटा। टाइम पर जब घाटे का समय पूरा होता है तो फिर बाप कमाई कराने आते हैं। मुक्ति में जाना – वह भी कमाई है। शान्ति तो सब मांगते रहते हैं। शान्ति देवा कहने से बुद्धि बाप तरफ चली जाती है। कहते हैं – विश्व में शान्ति हो, परन्तु वह कैसे होगी – यह किसको भी पता नहीं है। शान्तिधाम, सुखधाम अलग होते हैं – यह भी नहीं जानते हैं। जो पहला नम्बर है, उनको भी कुछ पता नहीं था। अभी तुमको सारी नॉलेज है। तुम जानते हो – हम इस कर्म-क्षेत्र पर कर्म का पार्ट बजाने आये हैं। कहाँ से आये हैं? ब्रह्मलोक से। निराकारी दुनिया से आये हैं इस साकारी दुनिया में पार्ट बजाने। हम आत्मा दूसरी जगह की रहने वाली हैं। यहाँ यह 5 तत्वों का शरीर रहता है। शरीर है तब हम बोल सकते हैं। हम चैतन्य पार्टधारी हैं। अभी तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि इस ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को हम नहीं जानते हैं। आगे नहीं जानते थे। अपने बाप को, अपने घर को, अपने रूप को यथार्थ रीति नहीं जानते थे। अभी जानते हैं आत्मा कैसे पार्ट बजाती रहती है। स्मृति आई है। पहले स्मृति नहीं थी।

तुम जानते हो सच्चा बाप ही सच सुनाते हैं, जिससे हम सचखण्ड के मालिक बन जाते हैं। सच के ऊपर भी सुखमनी में है। सत कहा जाता है – सचखण्ड को। देवतायें सब सच बोलने वाले होते हैं। सच सिखलाने वाला है बाप। उनकी महिमा देखो कितनी है। गाई हुई महिमा तुमको काम में आती है। शिवबाबा की महिमा करते हैं। वही झाड़ के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। सच बाप सुनाते हैं तो तुम बच्चे सच्चे बन जाते हो। सचखण्ड भी बन जाता है। भारत सचखण्ड था। नम्बरवन ऊंच ते ऊंच तीर्थ भी यह है क्योंकि सर्व की सद्गति करने वाला बाप भारत में ही आते हैं। एक धर्म की स्थापना होती है, बाकी सबका विनाश हो जाता है। बाप ने समझाया है – सूक्ष्मवतन में कुछ है नहीं। यह सब साक्षात्कार होते हैं। भक्ति मार्ग में भी साक्षात्कार होता है। साक्षात्कार नहीं होता तो इतने मन्दिर आदि कैसे बनते! पूजा क्यों होती। साक्षात्कार करते हैं, फील करते हैं यह चैतन्य थे। बाप समझाते हैं – भक्ति मार्ग में जो कुछ मन्दिर आदि बनते हैं, जो तुमने सुना देखा है, वह सब रिपीट होगा। चक्र फिरता ही रहता है। ज्ञान और भक्ति का खेल बना हुआ है। हमेशा कहते हैं ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। परन्तु डीटेल कुछ नहीं जानते। बाप बैठ समझाते हैं – ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। वैराग्य है रात का। फिर दिन होता है। भक्ति में है दु:ख इसलिए उसका वैराग्य। सुख का तो वैराग्य नहीं कहेंगे। सन्यास आदि भी दु:ख के कारण लेते हैं। समझते हैं पवित्रता में सुख है इसलिए स्त्री को त्याग चले जाते हैं। आजकल तो धनवान भी बन गये हैं क्योंकि सम्पत्ति बिगर तो सुख मिल न सके। माया वार कर जंगल से फिर शहर में ले आती है। विवेकानन्द और रामकृष्ण भी दो बड़े सन्यासी होकर गये हैं। सन्यास की ताकत रामकृष्ण में थी। बाकी भक्ति का समझाना करना, वह विवेकानन्द का था। दोनों की पुस्तकें हैं। पुस्तक जब लिखते हैं तो एकाग्रचित हो बैठ लिखते हैं। रामकृष्ण जब अपनी बायोग्राफी बैठ लिखते थे तो शिष्य को भी कहा तुम जाकर दूर बैठो। था बहुत तीखा कड़ा सन्यासी, नाम भी बहुत है। बाप ऐसे नहीं कहते कि स्त्री को माँ कहो। बाप तो कहते हैं उनको भी आत्मा समझो। आत्मायें तो सब भाई-भाई हैं। सन्यासियों की बात अलग है, उसने स्त्री को माँ समझा। माँ की बैठ बड़ाई की है। यह ज्ञान का रास्ता है, वैराग्य की बात अलग है। वैराग्य में आकर स्त्री को माँ समझा। माता अक्षर में क्रिमिनल आई नहीं होगी। बहन में भी क्रिमिनल दृष्टि जा सकती है, माता में कभी खराब ख्याल नहीं जायेंगे। बाप की बच्ची में भी क्रिमिनल दृष्टि जा सकती है, माँ में कभी नहीं जायेगी। सन्यासी स्त्री को माँ समझने लगा। उनके लिए ऐसे नहीं कहते कि दुनिया कैसे चलेगी, पैदाइस कैसे होगी? वह तो एक को वैराग्य आया, माँ कह दिया। उनकी महिमा देखो कितनी है। यहाँ बहन-भाई कहने से भी बहुतों की दृष्टि जाती है इसलिए बाबा कहते हैं – भाई-भाई समझो। यह है ज्ञान की बात। वह है एक की बात, यहाँ तो प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान ढेर भाई-बहन हैं ना। बाप बैठ सब बातें समझाते हैं। यह भी तो शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। वह धर्म ही अलग है निवृत्ति मार्ग का, सिर्फ पुरूषों के लिए है। वह है हद का वैराग्य, तुमको तो सारी बेहद की दुनिया से वैराग्य है। संगम पर ही बाप आकर तुम्हें बेहद की बातें समझाते हैं। अभी इस पुरानी दुनिया से वैराग्य करना है। यह बहुत पतित छी-छी दुनिया है। यहाँ शरीर पावन हो न सके। आत्मा को नया शरीर सतयुग में ही मिल सकता है। भल यहाँ आत्मा पवित्र बनती है, परन्तु शरीर फिर भी अपवित्र रहता है, जब तक कर्मातीत अवस्था हो। सोने में खाद पड़ती है तो जेवर भी खाद वाला बनता है। खाद निकल जाए तो जेवर भी सच्चा बनेगा। इन लक्ष्मी-नारायण की आत्मा और शरीर दोनों सतोप्रधान हैं। तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों ही तमोप्रधान काले हैं। आत्मा काम चिता पर बैठ काली बन गई है। बाप कहते हैं फिर हम आकर सांवरे से गोरा बनाते हैं। यह ज्ञान की सारी बात है। बाकी पानी आदि की बात नहीं। सब काम चिता पर बैठ पतित बन पड़े हैं इसलिए राखी बंधवाई जाती है कि पावन बनने की प्रतिज्ञा करो।

बाप कहते हैं हम आत्माओं से बात करते हैं। मैं आत्माओं का बाप हूँ, जिसको तुम याद करते आये हो – बाबा आओ, हमको सुखधाम में ले चलो। दु:ख हरो, कलियुग में होते हैं अपार दु:ख। बाप समझाते हैं तुम काम चिता पर बैठ काले तमोप्रधान हो गये हो। अब मैं आया हूँ – काम चिता से उतार ज्ञान चिता पर बिठाने के लिए। अब पवित्र बन स्वर्ग में चलना है। बाप को याद करना है। बाप कशिश करते हैं। बाबा के पास युगल आते हैं – एक को कशिश होती है, दूसरे को नहीं होती। पुरूष ने फट से कह दिया – हम इस अन्तिम जन्म में पवित्र रहेंगे, काम चिता पर नहीं चढ़ेंगे। ऐसे नहीं कि निश्चय हो गया। निश्चय अगर होता तो बेहद बाप को पत्र लिखते, कनेक्शन में रहते। सुना है पवित्र रहते हैं, अपने धन्धे आदि में ही मस्त रहते हैं। बाप की याद ही कहाँ है। ऐसे बाप को तो बहुत याद करना चाहिए। स्त्री-पुरूष का आपस में कितना प्यार होता है, पति को कितना याद करती है। बेहद के बाप को तो सबसे जास्ती याद करना चाहिए। गायन भी है ना – प्यार करो चाहे ठुकराओ, हम हाथ कभी नहीं छोड़ेंगे। ऐसे नहीं, यहाँ आकर रहना है, वह तो फिर सन्यास हो गया। घरबार छोड़ यहाँ आकर रहें। तुमको तो कहा जाता है, गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनो। यह पहले तो भट्ठी बननी थी, जिससे इतने तैयार हो निकले, उनका भी बहुत अच्छा वृतान्त हैं। जो बाप का बनकर अन्दर (यज्ञ में) रहकरके रूहानी सर्विस नहीं करते वह जाकर दास-दासियां बनते हैं फिर पिछाड़ी में नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ताज मिल जाता है। उन्हों का भी घराना होता है, प्रजा में नहीं आ सकते। कोई बाहर का आए अन्दर वाला नहीं बन सकता। वल्लभाचारी बाहर वालों को कभी अन्दर आने नहीं देते हैं। यह सब समझने की बातें हैं। ज्ञान है सेकण्ड का, फिर बाप को ज्ञान का सागर क्यों कहा जाता है? समझाते ही रहते हैं पिछाड़ी तक समझाते ही रहेंगे। जब राजधानी स्थापन हो जायेगी तुम कर्मातीत अवस्था में आ जायेंगे फिर ज्ञान पूरा हो जायेगा। है सेकण्ड की बात। परन्तु फिर समझाना पड़ता है। हद के बाप से हद का वर्सा, बेहद का बाप विश्व का मालिक बना देते हैं। तुम सुखधाम में जायेंगे तो बाकी सब शान्तिधाम में चले जायेंगे। वहाँ तो है ही सुख ही सुख। यह तो खातिरी है – बाप आये हैं। हम नई दुनिया के मालिक बन रहे हैं – राजयोग की पढ़ाई से। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पतित छी-छी दुनिया से बेहद का वैराग्य रख आत्मा को पावन बनाने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करना है। एक बाप की ही कशिश में रहना है।

2) ज्ञान की धारणा से अपनी बैटरी भरनी है। ज्ञान रत्नों से स्वयं को धनवान बनाना है। अभी कमाई का समय है इसलिए घाटे से बचना है।

वरदान:- बाप और वरदाता इस डबल सम्बन्ध से डबल प्राप्ति करने वाले सदा शक्तिशाली आत्मा भव
सर्व शक्तियां बाप का वर्सा और वरदाता का वरदान हैं। बाप और वरदाता – इस डबल संबंध से हर एक बच्चे को यह श्रेष्ठ प्राप्ति जन्म से ही होती है। जन्म से ही बाप बालक सो सर्व शक्तियों का मालिक बना देता है। साथ-साथ वरदाता के नाते से जन्म होते ही मास्टर सर्वशक्तिवान बनाए “सर्वशक्ति भव” का वरदान दे देता है। तो एक द्वारा यह डबल अधिकार मिलने से सदा शक्तिशाली बन जाते हो।
स्लोगन:- देह और देह के साथ पुराने स्वभाव, संस्कार वा कमजोरियों से न्यारा होना ही विदेही बनना है।

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 September 2018

To Read Murli 20 September 2018 :- Click Here
21-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप से लॅव और रिगार्ड रखो तो बाप की आशीर्वाद मिलती रहेगी, माया की जंक उतरती जायेगी”
प्रश्नः- इस चैतन्य बगीचे में कई फूल खिलते ही नहीं, कली के कली रह जाते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि पुरुषार्थ में सुस्ती है, याद करने का जो समय है उसमें सोये रहते हैं। सोने वाले अपना समय ऐसे ही गंवा देते हैं। जिन सोया तिन खोया। बन्द कली ही रह जाती। सदा गुलाब के फूल वह हैं जो देवी-देवता धर्म के आलराउन्ड पार्टधारी हैं।
गीत:- यह वक्त जा रहा है… 

ओम् शान्ति। यह किसने समझाया? बेहद के बाप ने समझाया बच्चों को। बेहद की जो घड़ी है उसमें अभी बाकी थोड़ा टाइम अथवा कुछ मिनट रहे हैं। घण्टे गये, बाकी कुछ मिनट रहे हैं। जो अच्छे सेन्सीबुल बच्चे हैं वह जानते हैं, नम्बरवार तो हैं ना। गुलाब के फूल होते हैं उनमें भी नम्बरवार होते हैं। यहाँ भी गुलाब के फूल हैं लेकिन उसमें कोई बन्द कली हैं, कोई थोड़ा खिले हुए हैं। तुम्हारा देवी-देवता धर्म भी जैसे सदा गुलाब है, सदा आलराउन्ड पार्ट बजाने वाले। तुम सभी धर्मों में ऊंच ते ऊंच धर्म वाले सदा गुलाब हो। दूसरे धर्म वाले फिर नम्बरवार हैं, कोई चम्पा हैं, कोई चमेली हैं, कोई टांगर हैं, कोई अक है। बगीचा तो है ना। सभी धर्मों का बगीचा है। बच्चियां जानती हैं ऊंच ते ऊंच धर्म है ही देवी-देवताओं का। जब सीजन नहीं होती है तब मुखड़ी भी नहीं रहती, कली फूल भी नहीं रहते हैं। (बाबा ने आज बगीचे से एक बड़ा गुलाब का फूल, एक छोटा फूल, एक आधा खिला हुआ फूल, एक कली, एक बन्द कली, एक मुखड़ी… ऐसे वैरायटी लाकर संदली पर रखा है) अब देखो, मुखड़ी भी कोई कच्ची है, कोई आधा खिली हुई है। कोई फूल है, कोई बंद कलियां हैं। कोई मुरझा जाते हैं, बिल्कुल खिलते ही नहीं। बरोबर ऐसा है ना। तो बाप कहते हैं पुरुषार्थ में सुस्ती न करो। ऐसे कली के कली न रह जाओ। कोई आधा में रह जाते, नम्बरवार हैं। समझा जाता है इस हालत में यह क्या पद पायेंगे? समय बहुत थोड़ा है। घड़ी बनाई है, कांटे को अब बदल तो नहीं सकते हैं। युक्ति से ऐसे बनाना चाहिए, जो निशानी रहे। यहाँ से शुरू हो कांटा अब यहाँ तक आकर पहुँचा है। जीरो से शुरू हो फिर कांटा 12 तक आकर पूरा होता है। तो इस चक्र में भी पहले देवी-देवता धर्म निकला, अभी है अन्त। जब से बाप आया है तब से गिना जाता है।

तो बाप कहते हैं – बच्चे, टाइम वेस्ट मत करो। बाप को याद करते रहो। जितना याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। विकर्म तो सबसे होते रहते हैं। ऐसे कोई मत समझे कि हमसे नहीं होता है। इतना अहंकार कोई मत रखे। विकर्म तो बहुत ही गुप्त भी बनते हैं। उनसे बड़ी सम्भाल रखनी है। इस घड़ी से तुमको टाइम का तो पता लग ही जाता है। मनुष्य तो समझते कलियुग अभी बच्चा है। बिल्कुल घोर अन्धियारे में पड़े हुए हैं। अभी तुमको मुर्दों को जगाना है। सवेरे उठकर बाप को याद करना चाहिए। जिन सोया तिन खोया। यानी याद करने का जो समय है वह खोना नहीं है, नहीं तो मुर्दे के मुर्दे रह जायेंगे। कोई तो कली ही रह जाते हैं। बस, तूफान में अच्छी-अच्छी कलियां भी गिर जाती हैं। फूल भी गिरते हैं तो कलियां भी गिरती हैं। फिर जैसे कि कांटे के कांटे रह जाते हैं। दैवी घराने में तो आयेंगे परन्तु प्रजा में आयेंगे। तुम हो ही गुलाब के झाड़ के, परन्तु इसमें खुश नहीं होना चाहिए। भल मनुष्य गाते हैं फलाना स्वर्ग पधारा, परन्तु क्या बना? यह भी कारण होगा ना। यह तो बच्चे समझ सकते हैं जितना बाबा का मोस्ट सर्विसएबुल बच्चा होगा उतना वह बिलवेड भी मोस्ट होगा। यह तो कॉमन बात है। सपूत, आज्ञाकारी, इमानदार बच्चे माँ-बाप को प्यारे लगते हैं। माया बिल्कुल ही बेइमानदार बना देती है। पता भी नहीं पड़ता है कि हमसे बड़ी भारी ग़फलत होती है। बाप कहते हैं जो करेंगे उनको पाना ही है। ऐसा विकर्म नहीं करना जो सजा खानी पड़े। कोई विकर्मों की यहाँ भी सजा पा लेते हैं। कर्मभोग है। गर्भजेल में भी कर्मभोग है। उनसे बड़ा ख़बरदारी से छूटना है, माया बड़ी शैतान है इसलिए बिलवेड मोस्ट बाप को तो हर वक्त याद करते रहना चाहिए। जैसे लौकिक बाप अपने बच्चों को जानते हैं वैसे पारलौकिक बाप भी हर एक बच्चे को जानते हैं। बाप खुद बैठ बतलाते हैं – मैं एक ही इस तन में आता हूँ। कितने ढेर बच्चे हैं। अजुन तो ढेर आयेंगे। झाड़ बढ़ता है। भगवान् के आगे भक्तों की भीड़ होगी। शिव के मन्दिर में इतनी भीड़ नहीं होती। यहाँ तो तुम समझते हो कितनी भीड़ होगी। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन होनी है। इन बातों में बुद्धि बड़ी विशाल चाहिए। बरोबर भक्त जो इतनी भक्ति करते हैं, उनके सम्मुख भगवान् आयेंगे तो कितनी भीड़ होगी।

तुम जानते हो बाबा हमको राजयोग सिखला रहे हैं परन्तु घर में रहते हुए फिर भी भूल जाते हैं। यह ऐसी विचित्र बात है जो साथ रहते भी फिर भूल जाते हैं। इतना लॅव रिगार्ड नहीं रहता। सुई को कट लगी हुई होगी तो वह चुम्बक को खींच नहीं सकती। योग और ज्ञान भी हो तब कट निकल सके और परमात्मा की आशीर्वाद भी चाहिए ना। माया की जंक लगी हुई है, कोई चीज़ को जंक लगी हुई है तो घासलेट में डालते हैं। तुम्हारी भी योग से जंक निकलती है। आत्मा प्योर हो जाती है। तो बाप समझाते हैं – बच्चे, फूल बनकर दिखाओ। वह समय भी जल्दी आयेगा जो तुम किसके सामने बैठेंगे और झट उसको साक्षात्कार होने लगेंगे। ब्रह्मा और विष्णु का साक्षात्कार तो बहुतों को होता है। डायरेक्शन देते हैं – जाओ बी.के. के पास। ब्रह्मा भी बैठे हैं, ब्रह्माकुमार-कुमारियां भी बैठे हैं। आगे चलकर बहुतों को साक्षात्कार होगा। बाबा साक्षात्कार कराते हैं तुम वहाँ जाओ, मैं वहाँ राजयोग सिखला रहा हूँ, इससे तुम यह पद पा सकते हो। है भी सेकेण्ड की बात। मनमनाभव। मुझे याद करो तो तुम सूर्यवंशी बन जायेंगे। वहाँ हैं दैवी वंशी और यहाँ हैं असुर वंशी। कितना अच्छी रीति समझाया जाता है। कोई चीज़ को महीन करने के लिए कूटा जाता है ना। मकान का फाउन्डेशन पक्का करने के लिए कितनी मेहनत करते हैं। बाप भी कहते हैं जितना हो सके मुझे याद करो। शिवपुरी और विष्णुपुरी को याद करो। यह अन्दर अपने साथ बातें करनी चाहिए। पहले अपने से चिन्तन कर फिर बात करनी होती है – समझाने के लिए। तुमको भी समझाना है।

अब बच्चे एग्जीवीशन में कितनी मेहनत करते हैं। है सारी समझाने की बात। सिर्फ स्लोगन से तो कोई समझ न सके। बाप बैठ समझाते हैं देवी-देवताओं को राज्य कैसे मिला? किसने राजयोग सिखाया? भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखलाता हूँ, कहता हूँ मुझे याद करो। शिवपुरी और विष्णुपुरी को याद करो। अब प्रदर्शनी में भी बच्चों को अच्छी रीति समझाना है। मेडीटेशन पर भी समझाना है। हम भी मेडीटेशन करते हैं। चलते-फिरते बाप को याद करते बाप से बातें करते रहते हैं। जैसे कोई प्रोग्राम से कहाँ जाना होता है तो बुद्धि में रहता है आज फलाने के पास हमको जाना है। प्रोग्राम मिला और बुद्धि दौड़ती रहेगी। समय नज़दीक आयेगा, समझेंगे अभी हमको जाना है। तुमको भी अन्दर में यह रहना चाहिए – बस, अभी हमको जाना है बाबा के पास। यह पुरानी खाल छोड़नी है। शिवपुरी में जाना है। इस रावणपुरी को छोड़ना है। यह बड़ी छी-छी गन्दी दुनिया है। अभी हम संगम पर बैठे हैं। यह आइरन एजड शरीर है। बाबा कहते हैं मुझे याद करते रहो तो तुम आत्माओं को शिवपुरी ले जाऊंगा। कृष्ण तो नहीं ले जायेगा। तो यह समझाने की बात है।

अब बाप कहते हैं मुझ शिवबाबा को याद करो। अभी तुम राजयोग सीख रहे हो। तुमको शिवपुरी में आना है, फिर विष्णुपुरी में चले आयेंगे। यह समझाना तो सहज है ना। शिव पुरी मुक्ति से होकर विष्णुपुरी (जीवनमुक्ति) में जाना है। सभी का बाप एक है। मुख्य यह समझाना है। बाकी कितना भी स्लोगन आदि बनायेंगे, मुफ्त खर्चा होता है। चित्र तो सब तुम्हारे पास हैं। कराची में तुम्हारे पास कितने आते थे। बड़े मैदान में टेबुल-कुर्सी रखी रहती थी। जो आते थे उनको बैठ समझाते थे। आगे तो इतना ज्ञान नहीं था। अभी तो बिल्कुल सहज ज्ञान मिला है। बाप को भी जानते हो। बाप है स्वर्ग का रचयिता। उनका फ़रमान है – मुझे और वर्से को याद करो। चित्र दिखाकर इस पर समझाओ। आगे तो समझाने से सुनते-सुनते ध्यान में चले जाते थे। उसी समय तो तुम छोटी-छोटी कलियां थी। बाबा का सारा चमत्कार था। रस्सी खींच लेते थे। अभी तो समझाने की बहुत जरूरत है। आजकल तो आदमी भी बड़े ख़राब हैं। फार्म भराने बिगर आक्यूपेशन का पता पड़ न सके। जैसे वह बैरिस्टरी आदि पढ़ाने वाले टीचर्स होते हैं ना। यह बेहद का बाप कितना बड़ा टीचर है। वह टीचर तो करके बैरिस्टर बनायेगा। बीच में शरीर छूट गया तो बैरिस्टरी भी ख़त्म। ऐसे थोड़ेही दूसरे जन्म में वह चलेगी। यहाँ तुम जो कुछ करते हो, वह साथ ले जाते हो। आत्मा में संस्कार रहते हैं। हाँ, छोटे बच्चे को आरगन्स छोटे हैं इसलिए बोल नहीं सकते हैं। कर्मेन्द्रियों से कुछ कर नहीं सकते परन्तु संस्कार तो ले जाते हैं ना। यह है अविनाशी ज्ञान, बड़ा होकर फिर आए ज्ञान लेंगे। वह आत्मा फिर से आयेगी जरूर। कहाँ न कहाँ किसका कल्याण करेगी। अपने मात-पिता को भी इस तरफ खीचेंगी। भल छोटा बच्चा होगा तो भी मम्मा-बाबा को देखने से ही उनका लॅव कशिश होगा। आरगन्स छोटे होने कारण बात तो नहीं कर सकेंगे। परन्तु लॅव जायेगा हमजिन्स तरफ।

तो यह नॉलेज बड़ी विचित्र, रमणीक और सिम्पुल है। कोई तो बिल्कुल ही ऐसे हैं जो कांटे का कांटा रह जाते हैं। सतयुग है गुलाब का झाड़। अभी तो कांटे हैं। फिर उनसे कोई मुखड़ियां निकल रही हैं। सदा गुलाब तो हैं फिर उनमें नम्बरवार हैं। प्रजा में भी आयेंगे ना। कली बन फिर मुरझाकर ख़त्म हो जायें, यह कोई पढ़ाई थोड़ेही हुई। मुखड़ी बंद की बंद रहेगी तो प्रजा में चले जायेंगे। जो फूल बनते हैं वह राजाई में आयेंगे। बाबा बगीचे में जाते हैं तो बच्चों को समझाने के लिए फूल भी ले आते हैं। अगर अभी पुरुषार्थ कर फूल न बनें तो बाद में बहुत पछताना पड़ेगा। एक तो विकर्मों का बोझा सिर पर है ही फिर और ही सजा खाकर प्रजा में पद पाना, वह किस काम का हुआ। यह तो समझते हो हमारी दैवी राजधानी स्थापन हो रही है। हर एक को समझ सकते हैं कौन-कौन क्या बनेंगे? दिल में रहेगा यह कहाँ तक पढ़ रहे हैं, क्या बनेंगे? अच्छा पढ़ने वाला होगा तो अन्दर प्यार करते रहेंगे। समझेंगे, यह राजाई में आयेंगे। आगे चलकर तुमको बहुत साक्षात्कार होंगे। न पढ़ने वाले फिर बहुत पछतायेंगे। समय बहुत थोड़ा है। फिर इतना गैलप भी कैसे करेंगे। बाप कहते हैं बच्चे बनकर और फिर अगर विकर्म करेंगे तो सौगुणा दण्ड भोगना पड़ेगा। जेल में जाने वाले कई चोरों का धन्धा ही यह हो जाता है – सज़ा खाना, जेल जाना।

अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो ऊंच ते ऊंच महाराजा-महारानी सूर्यवंशी बनने का। नम्बरवार तो हैं ना। जो भागन्ती हो जायेंगे उनका क्या हाल हो जायेगा! बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं परन्तु तकदीर में नहीं है तो समझते नहीं फिर तो तदबीर कराने वाला क्या कर सकता है? बाप तो कहते हैं फूल बनो, बाप को भूलो मत। ऐसे बाप का हाथ कभी नहीं छोड़ना। माया अजगर कच्चा खा जायेगा। ऐसी ग़फलत नहीं करनी है जो अपना राज्य-भाग्य गँवा बैठो। फिर कल्प-कल्पान्तर ऐसी चलन देखने में आयेगी जैसे अभी देखते हैं। कोई की सतोप्रधान चलन है, कोई की रजो, कोई की तमो……..। ग्रहचारी भी अच्छे-अच्छे बच्चों पर बड़ी कड़ी बैठती है। अन्दर के काले, बाहर के अच्छे। ग़फलत होगी तो आत्मा काली हो पड़ेगी। परछाया काला पड़ता है इसलिए बाबा कहते हैं – एक कान से सुन, दूसरे कान से फिर निकाल दो, ईविल बातों के लिए कान बन्द कर दो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा विकर्म विनाश करने की लगन में रहना है। कोई भी विकर्म अभी न हो, इसकी सम्भाल करनी है।

2) माया की ग्रहचारी से बचने के लिए ईविल बातों से कान बन्द कर लेने हैं। अपनी चलन सतो-प्रधान बनानी है। अन्दर बाहर साफ रहना है।

वरदान:- अमृतवेले के फाउण्डेशन द्वारा सारे दिन की दिनचर्या को ठीक रखने वाले सहज पुरुषार्थी भव
जैसे ट्रेन को पटरी पर खड़ा कर देते हैं तो आटोमेटिकली रास्ते पर चलती रहती है, ऐसे ही रोज़ अमृतवेले याद की लकीर पर खड़े हो जाओ। अमृतवेला ठीक है तो सारा दिन ठीक हो जायेगा। अमृतवेले का फाउण्डेशन पक्का है तो सारा दिन स्वत: सहयोग मिलता रहेगा और पुरुषार्थ भी सहज हो जायेगा। जो सदा बाप की याद और श्रीमत की लकीर के अन्दर रहने वाली ऐसी सच्ची सीतायें हैं उनके नस-नस में एक राम की स्मृति का आवाज रहता है।
स्लोगन:- बाबा की मदद को कैच करना है तो बुद्धि को एकाग्र कर लो।

TODAY MURLI 21 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 September 2018 :- Click Here

21/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, by having love and regard for the Father, you will continue to receive the Father’s blessings and the rust of Maya will continue to be removed.
Question: Why is it that some buds in this living garden do not bloom at all, but remain buds all the time?
Answer: Because there is laziness in their efforts. They remain sleeping at the time of remembrance. Those who remain sleeping waste their time like that. Those who remain sleeping lose everything. They remain closed buds. Constantly blooming roses are those who have all-round part s in the deity religion.
Song: This time is passing by. 

Om shanti. Who explained this? The unlimited Father explained to you children. Only a short time, that is, only a few more minutes of the unlimited time remains. The hours have gone by; now only a few minutes remain. The good sensible children know this; it is numberwise. Roses are also numberwise. There are roses here, too, but some are closed buds and some have opened a little. Your deity religion is like roses in bloom; they are the ones who always play all-round part s. You are the roses in bloom of the highest of all religions. Those of other religions are numberwise. Some are like magnolias, some like jasmine flowers, some like tangars (other fragrant flowers) and others are like ucks (those with a bitter smell). There is the garden. This is the garden of all religions. You daughters know that the highest-on-high religion is that of the deities. When it is not the season, there aren’t even tightly closed buds or any buds or flowers. (Baba had brought various flowers from the garden – a big rose, a small rose, another small flower, one half opened bud, one bud, a closed bud and a newly-born bud – and placed these on the gaddi.) Look, among the closed buds, some are still weak, some have only half opened. Some are flowers and others are closed buds. Some wilt and they don’t bloom at all. It is truly like that, is it not? So, the Father says: Don’t be lazy in your efforts. Make sure you don’t just remain a bud. Some only reach half-way; it is numberwise. It is understood what status someone would claim in that situation. There is very little time. A clock has been made, but the hands of the clock cannot be changed. You should create it cleverly so that that sign remains. The hands began here and have now reached here. The hands start at zero and will finish at 12. So, in this cycle too, the deity religion emerged first and it is now the end. You would begin to count from the time the Father came. Therefore, the Father says: Children, don’t waste your time. Continue to remember the Father. To the extent that you remember Him, accordingly your sins will be absolved. Everyone continues to commit sin. None of you should think that you don’t commit sin; no one should have that much arrogance. There are also many incognito sins committed. You have to be very cautious about them. From this clock, you become aware of the time. People think that the iron age is still a child. They are in extreme darkness. You now have to awaken the corpses. You should wake up early in the morning and remember the Father. Those who remain sleeping lose out, that is, you mustn’t waste the time that is for remembrance. Otherwise, you will remain like corpses. Some remain buds. In storms, even good buds fall. Flowers as well as buds fall. They then remain as they were, like thorns. They will become part of the deity dynasty, but as subjects. You belong to the rose tree, but you mustn’t become happy with just that. Although people say that so-and-so went to heaven, what did he become? There must be a reason for that. You children can understand that you would become most beloved to the extent you are a most serviceable child of Baba’s. This is something common. Worthy, obedient and honest children are loved by their parents. Maya makes you completely dishonest. You are not even able to realise when you are making a great mistake. The Father says: Those who do something definitely have to receive the reward of that. You mustn’t commit any sin for which you would have to experience punishment. Some experience the punishment of their sins here. There is the suffering of karma. There is the suffering of karma in the jail of a womb. You have to be liberated from that with great caution. Maya is very devilish and this is why you should continue to remember the most beloved Father at every moment. Just as a physical father knows his children, in the same way, the spiritual Father also knows each and every child. The Father Himself sits here and tells you: I only come into this one body. There are so many children, and many more will come. The tree continues to grow. There will be a crowd of devotees in front of God. There wouldn’t be as great a crowd in the Shiva Temple. Here, you understand how many crowds there will be. The sun and moon dynasty kingdoms are to be established. You need a very broad and unlimited intellect for these things. When God truly comes in front of the devotees who perform so much devotion, there will be such a great crowd. You know that Baba is teaching us Raja Yoga, but you still forget Him while living at home. This is something so unique that, even though you live together, you forget. There isn’t that much love and regard. If a needle is rusty, a magnet wouldn’t be able to pull it. Only when there is knowledge and yoga can the rust be removed. You also need God’s blessings. Souls are covered with the rust of Maya. Anything that is rusty is immersed in kerosene. Your rust is removed by yoga and the soul also becomes pure. Therefore, the Father explains: Children, make yourself into flowers. The time will also come soon when whoever you sit in front of will immediately begin to have visions. So many have visions of Brahma or Vishnu. They give them a direction to go to the BKs. Brahma is sitting there and there are also the Brahma Kumars and Brahma Kumaris. As you progress further, many will have visions. Baba gives a vision: Go there. I am teaching Raja Yoga there and, through that, you can claim such-and-such a status. This is a matter of a second. Manmanbhav, remember Me and you will become part of the sun dynasty. There, it is the deity clan whereas here, it is the devilish clan. This is explained to you so clearly. In order to make something fine, it is ground. They make so much effort to make the foundation of a building strong. The Father also says: Remember Me as much as possible. Remember the land of Shiva and the land of Vishnu. Continue to talk to yourself internally in this way. First think about these things , then talk to yourself about them in order to understand and explain to others. Some children make so much effort for the exhibitions. It is all a matter of explaining. No one would be able to understand with just slogans. The Father sits here and explains how the deities received their kingdom. Who taught them Raja Yoga? God speaks: I teach Raja Yoga. I tell you to remember Me. Remember the land of Shiva and the land of Vishnu. You children now have to explain very clearly at the exhibitions. You also have to explain about meditation. We also practise meditation. While walking and moving around, we remember the Father and continue to talk to Him. When you have to go to a programme, your intellect is aware: Today, I have to go to so-and-so. As soon as you receive a programme, your intellect runs in that direction. When the time comes close, you will understand that you now have to go there. You should also feel inside: That’s it! We now have to go to Baba. We have to shed these old skins. We have to leave this land of Ravan and go to the land of Shiva. This world is very dirty. We are now sitting at the confluence age. These are ironaged bodies. Baba says: Remember Me and I will take you souls to the land of Shiva. Krishna will not take you there. These matters have to be explained. Now the Father says: Remember Me, Shiv Baba. You are now studying Raja Yoga. You have to go to the land of Shiva and you will then automatically go to the land of Vishnu. It is easy to explain this. You will go from the land of Shiva, the land of liberation, to the land of Vishnu, the land of liberation-in-life. The Father of all is the One. You have to explain this main thing. No matter how many slogans etc. you make, that is unnecessary expense. You have all the pictures etc. In Karachi, so many used to come to you. You used to keep a table and chair outside on the big area of ground. You would sit and explain to whoever came there. Previously, there wasn’t that much knowledge. You have now received easy knowledge. You also know the Father. The Father is the Creator of heaven. His order is: Remember Me and the inheritance. Show the picture and explain that. Previously, when you used to explain the pictures, while they were listening to you they would go into trance. At that time, you were small buds. All of that was Baba’s magic. He used to pull the string. There is now a great need to explain everything. Nowadays, people are very bad. You cannot tell what someone’s occupation is unless you ask him to fill in a form. Just as there are those teachers etc. who teach you how to become a barrister, so too, this unlimited Father is such a great Teacher. Those teachers would perhaps make you into a barrister. However, if you shed your body while studying, everything you had studied to become a barrister would be finished. It isn’t that that study will continue in the next birth. Whatever you do here, you take that with you. A soul has the sanskars within him. Yes, little children have small organsand are therefore unable to speak. They are unable to do anything with their physical organs, but they do carry those sanskars with them. This knowledge is imperishable, so they will come and take knowledge when they grow older. That soul will definitely come here again. He will bring benefit to someone, somewhere or other. He will pull his parents in this direction. Although he will be a small child, as soon as he sees Mama and Baba, there will be a pull of that love. Because the physical organs are small, he wouldn’t be able to speak, but there would be that love for his equals. So, this knowledge is very unique, entertaining and simple. Some are such that they remain as they are, like thorns. The golden age is a rose tree. You are now thorns. Then, some closed buds emerge from that. There are those who are constant roses, but they are still numberwise. They will become part of the subjects. To become a bud and then wilt and die is as though you have not studied. If a bud remains closed, that one will end up among the subjects. Those who become flowers will become part of the kingdom. When Baba goes into the garden, He brings flowers from there in order to explain to you children. If you don’t make effort and become a flower now, there will be a lot of repentance later on. Firstly, there is already the burden on your heads of the sins committed. So then, of what use is it to experience punishment and then claim a status among the subjects? You understand that your deity kingdom is being established. Baba can understand what each one of you will become. It will remain in His heart to what extent you study and what you will become. If someone studies well, He will continue to have that love inside. He would understand that you will become part of the kingdom. As you progress further, you will have many visions. Those who don’t study will repent a lot at that time. There is very little time left. So, how will you be able to gallop sufficiently? The Father says: If you perform sinful actions after becoming a child, there will have to be one hundred-fold punishment. It becomes the business of many thieves who go to jail: to experience punishment and go to jail. You are now making effort to become the highest-on-high sun-dynasty emperors and empresses. It is numberwise. What will be the condition of those who run away? The Father explains to you so well, but if it is not in your fortune and you don’t understand, what can the One who inspires you to make effort do? The Father says: Become a flower. Don’t forget the Father. Never let go of the hand of such a Father. Maya, the snake, will swallow you raw. Don’t make any mistakes so that you lose your fortune of the kingdom. Your activity of every cycle would then be seen to be the same as your activity of this time. Some have satopradhan behaviour, some have rajo and others have tamo behaviour. Some very good children have very severe omens over them. Internally, they are ugly whereas externally they look good. If you make any mistakes, the soul will become ugly. There is then a dark shadow. This is why Baba says: Hear it through one ear and let it out through the other: close your ears to anything evil. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always have the deep desire to have your sins absolved. Take care that you don’t commit any sins now.
  2. In order to remain safe from the eclipse of the omens of Maya, close your ears to evil things. Let your behaviour be satopradhan. Remain clean inside and out.
Blessing: May you be an easy effort-maker and keep your daily timetable accurate with the foundation of amrit vela.
Just as a train automatically moves along fine when it is on the rails, similarly, remainconcentrated each day, on the line of remembrance at amrit vela. If amrit vela is fine, then the rest of the day will be fine. If the foundation of amrit vela is firm, you will then continue to receive co-operation for the whole day and your efforts will become easy. Those who are true Sitas and constantly stay within the line of remembrance and shrimat of the Father remains aware of the one Rama in their every vein.
Slogan: In order to catch Baba’s help, keep your intellect concentrated.

*** Om Shanti ***

Font Resize