daily murli 20 september

TODAY MURLI 20 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 September 2020

20/09/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/03/86

The confluence age is the age of a holy life.

Today, BapDada is looking at the royal, alokik court or gathering of self-sovereigns, masters of the self. He is seeing a crown of light sparkling on each of you elevated souls. This royal court or gathering is a holy gathering. Each one of you pure and worthy-of-worship souls has not become pure, that is, holy, for just this one birth, for the line of becoming pure, that is, of becoming holy, is a long line of many births. Throughout the whole cycle, other souls also become pure and holy. Just as pure souls, as founders of religions, become instruments to establish a religion, so, along with those, many who are called great souls also become pure. However, there is a difference between their purity and the purity of you souls. The method for you to become pure is extremely easy. You don’t have to make any effort because you souls easily receive from the Father the inheritance of peace, happiness and purity. By having this awareness, you easily and automatically become imperishable. People of the world become pure, but by making effort – and they don’t attain purity as an inheritance for 21 births. Today, according to the world, it is the day of Holi. They celebrate Holi whereas you become holy souls by becoming coloured with the colour of the Supreme Soul. Celebrations take place for only a short time whereas to become that is for a lifetime. They celebrate for a day whereas you make your life holy. This confluence age is the age of a holy life. So, you have become coloured with the colour, that is, you have been coloured with the permanent colour and there is no need to wash it off. You become equal to the Father for all time. At the confluence age, you experience the karmateet and incorporeal stage equal to that of the incorporeal Father, and you experience the elevated life of being full of all virtues and completely viceless, equal to that of Father Brahma for 21 births. So, your Holi is to become equal to the Father through the colour of His company. Let the colour be so fast that you make others equal. Does anyone in the world celebrate Holi in such a way? You come here to play Holi in order to make others equal to the Father. Every soul is coloured forever with many different colours by the Father. The colour of knowledge, the colour of remembrance, the colour of many powers, the colour of virtues, elevated vision, elevated attitude, elevated good wishes and elevated pure feelings are automatically created. This spiritual colour is applied so quickly. You have become holy, that is, you have celebrated Holi. When those people celebrate Holi, their form become the same as their quality. What would they look like if someone were to take their photograph at that time? After celebrating Holi, what do they become? However, when you celebrate Holi, you become angels and then deities. All of these are your memorials, but because they do not have spiritual power, they are unable to celebrate in a spiritual way. Because they have become extroverted, they are only able to celebrate in an extrovert way. Your celebration is an accurate, auspicious meeting.

The speciality of Holi is to burn. First to burn, then to celebrate and then to have an auspicious meeting. The memorial of these three specialities is created. This is because, in order to become holy, all of you had to burn all your old sanskars and old memories in the fire of yoga. It was only then that you celebrated Holi with the colour of His company; that is, you coloured yourself with the Father’s colour. When you become coloured with the Father’s company, every soul of the world becomes part of God’s family. Because you are part of God’s family, good wishes for souls automatically become a natural sanskar. Therefore, you always continue to celebrate an auspicious meeting with one another. Even if someone is an enemy or has devilish sanskars, you definitely sprinkle them with drops of God’s colour with this auspicious spiritual meeting. What do you do to anyone who comes to you? To embrace everyone means to embrace them while considering them to be elevated souls: They are children of the Father. This loving meeting, the meeting of good wishes enables those souls to forget the old things. They too become enthusiastic. Therefore, the memorial has been created as a festival. So, to celebrate Holi with the Father means to become equal to the Father with the same permanent, spiritual colour. Those people are unhappy. That is why they have special days to celebrate in happiness. However, you always continue to sing and dance in happiness and to celebrate in pleasure. Those who are more confused think, “What happened? Why did it happen? How did it happen? and, are unable to stay in pleasure. You have become trikaldarshi and so you cannot have the thoughts of “What? or Why?” because you know all three aspects of time. Why did it happen? You know that that was a test paper to make you move forward. Why did it happen? It was nothing new. So, there is no questionabout what happened or how it happened. Maya came to make you even stronger and then went away. So, those who have the trikaldarshi stage do not get confused about this. The answers come together with the questions, because you are trikaldarshi. If your name is trikaldarshi and you do not even know the present or why it happened or how it happened, then how can you be called trikaldarshi? You have been victorious many times and you will continue to be that. You know the past and the future, that you are Brahmins who are to become angels and then deities from angels. It is a question of today and tomorrow. Questions end and a fullstop is applied.

The meaning of Holi is ho-lee (it has already happened). The past is the past. Do you know how to put a full stop in this way? This is also the meaning of Holi.

 

  • You know about the Holi in which you burn something.

 

You know about the Holi of colouring yourself with the colour.

You also know about the Holi of applying a fullstop.

You also know about the Holi of celebrating an auspicious meeting.

You know how to play all four types of Holi, do you not? If any one type of Holi is missing, the crown of light will not be able to stay on; it would keep falling off. When a crown does not fit properly, it keeps falling off. Have you passed in celebrating all four types of Holi? You have to become equal to the Father and the Father is complete and perfect. For how long will you have the stage of having a percentage? Whoever you love, it is not difficult to become equal to that one. You are always loving to the Father, and so why are you not always equal? It is easy, is it not? Achcha.

BapDada is giving imperishable congratulations for becoming equal to the Father, the highest of the highest, to all you holy swans who remain constantly holy and happy. Baba is giving you congratulations for becoming constantly equal to the Father and for always celebrating with pleasure in the holy age. Baba is giving you congratulations for constantly being a holy swan and becoming filled with jewels of knowledge. Baba is giving you congratulations for being coloured with all colours and becoming a worthy-of-worship soul. You are being given congratulations along with love and remembrance. To the masters, the children of the Father who is the Server, who are constantly saluted, love, remembrance and namaste.

Today, it is turn of the of Malaysia groupSouth EastDo all of you understand why you had dispersed? You got off the steamer of God’s family and went away into so many different corners. You were lost in the ocean of the world because in the copper age, instead of the soul bomb, you were hit by the bomb of the consciousness of bodies. Ravan dropped the bomb and so the steamer was broken into bits. The steamer of God’s family broke up and you dispersed to different places, wherever you found support. When those who are drowning receive support from anywhere, they take it. So, whatever religion and country you received a little support from, you went there. However, the sanskars are the same. This is why, although you went into another religion, as soon as you received the introduction to your real religion, you came here. You dispersed all over the world. This separation was also beneficial, it enabled many souls to emerge. You became benefactors in giving the world the introduction of God’s family. If everyone were to be in Bharat, how would world service take place? This is why you went into the different corners. Someone or other has reached all the main religions. If even one emerges, he definitely awakens his equals. BapDada too is pleased to see the children again after they have been separated from Him for 5000 years. All of you are also happy, are you not? You have arrived here. You have been found.

No VIP has yet come from Malaysia. They too are made instruments with the aim of doing service. They become instruments for serving at a fast speed and this is why they have to be kept at the front. For the Father, only you are the elevated souls. You are elevated in your spiritual intoxication. There is so much difference between you worthy-of-worship souls and those who are trapped by Maya. You have to give recognition to ignorant souls. There is now expansion in Singapore too. Wherever the specially beloved jewels of the Father go, they enable other jewels to emerge. By maintaining courage, you are moving forward in service with love. Therefore, you will receive the elevated fruit of your efforts. You have to gather together your family. You are so happy when someone who has been separated from your family comes back to the family, and you have gratitude in your hearts. They too would be singing so many songs of thanks, having come to the family. You became instruments and made them belong to the Father. At the confluence age you receive many garlands of thanks. Achcha.

Elevated Versions  Be a constantly great donor.

To be a great donor means to give all the treasures you have received to all souls without any selfish motives – to be altruistic. Only a soul who is beyond any selfish motives can be a great donor. To experience happiness in the happiness of others is to be a great donor. Just as an ocean is full, limitless and constant (undiminishing), so you children too are masters, masters of limitless treasures. Be a great donor and continue to use for others all the treasures you have received. Constantly have deep love for all the souls who come into relationship with you. Whether devotee souls or ordinary souls, let them receive the fruit of their devotion. The more merciful you become, the easier it will be to show the path to wandering souls.

You have the biggest treasure of all, which is happiness. Therefore, continue to donate this treasure of happiness. Whoever you give happiness to will repeatedly give thanks to you. When you have given the donation of happiness to souls who are unhappy, they will sing your praise. Become a great donor in this and distribute the treasure of happiness. Awaken your equals and show them the path. Now, according to the time, be a great donor and a bestower of blessings with your physical senses. With your forehead, remind everyone of his or her original form. With your eyes, remind them of their original land and show them the way to their kingdom. With your lips, clarify the knowledge of the Creator and creation and give them the blessing of becoming a deity from a Brahmin. With your hands, constantly be an easy yogi and give them the blessing of becoming a karma yogi. With your lotus feet, follow the Father at every step and become a bestower of the blessing of accumulating multimillions at every step. In this way continue to give the great donation and blessings through every physical organ. Become a master bestower and consider yourself to be responsible for transforming situations, for making weak souls powerful and for transforming the atmosphere and attitude with your powers. Become a constant benefactor and have the thought of giving co-operation and the great donation and blessing of power. “I have to give! I have to do this! I have to change. I have to become humble!” Those who take the initiative in this are Arjuna. They imbibe the speciality of a great donor.

Now, become an embodiment of experience for all souls. Become a mine of special experiences and give the great donation of making souls embodiments of experience on the basis of your experience so that every soul becomes like Angad. Not that they are just moving along, are doing everything, listening to and relating everything. No, let them sing the song that they have attained the treasures of experience and swing in the swing of happiness. You children must continue to distribute all the treasures that you have received from the Father, that is, you must be great donors. Anyone who comes to you should not leave empty-handed. All of you are companions for a long period of time and you also have a right to the kingdom for a long period of time. Be a great donor and a bestower of blessings for the weak souls of the final period and donate and perform the charity of giving them an experience. This act of charity will make you worthy-of worship and praise for half the cycle. You are goddesses who are filled with the wealth of knowledge. From the moment you became Brahmins, you received the treasures of knowledge and powers. Use these treasures for yourself and others and your happiness will increase. Become a great donor in this. To be a great donor means that this donation continues constantly.

The greatest act of charity in Godly service is the donation of purity. To become pure and make others pure is to become a charitable soul, because this donation frees souls from committing the greatest sin of suicide of the soul. Impurity is suicide of the soul whereas purity is the donation of life. Give the great donation of becoming pure and making others pure and become a charitable soul. To be a great donor means to become spiritually merciful and give extra power to completely weak, hopeless and powerless souls. A great donor means to create hope in completely hopeless cases. Therefore, be a master creator, become a great donor and continue to donate powers, knowledge, virtues and all the treasures you have attained. Donations are always given to those who are completely poor. Support is given to those who are without support. Therefore, be a great donor to the subjects and devotee souls of the final period. Brahmins are not great donors for one another. They are co-operative companions of one another. You are brothers and equal effort-makers, and so you must therefore give each other co-operation.

Blessing: May you become a world benefactor and serve with the powerful attitude of your mind.
In order to show the right path to desperate souls of the world, be a lighthouse and a might house, exactly like the Father. Have the aim of definitely giving something or other to each soul. Whether you give liberation or liberation-in-life, be a great donor and a bestower of blessings for all. At present, you serve your own places, but now while in one place, serve the world with the power of your mind through the atmosphere and vibrations. Create such a powerful attitude that an atmosphere is created. You will then be said to be a world benefactor.
Slogan: By doing the exercise of becoming bodiless and observing the diet of no waste thoughts, make yourself healthy.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is the 3rd Sunday of the month and all Raja Yogi tapaswi brothers and sisters will be having conducted yoga from 6.30pm – 7.30pm, stabilising in your original angelic form, listening to the call of the devotees and uplifting them. Be master merciful and compassionate and cast a vision of mercy over everyone. Give the blessing of liberation and liberation-in-life.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

20-09-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-03-86 मधुबन

”संगमयुग होली जीवन का युग है”

आज बापदादा सर्व स्वराज्य अधिकारी अलौकिक राज्य सभा देख रहे हैं। हर एक श्रेष्ठ आत्मा के ऊपर लाइट का ताज चमकता हुआ देख रहे हैं। यही राज्य सभा होली सभा है। हर एक परम पावन पूज्य आत्मायें सिर्फ इस एक जन्म के लिए पावन अर्थात् होली नहीं बने हैं लेकिन पावन अर्थात् होली बनने की रेखा अनेक जन्मों की लम्बी रेखा है। सारे कल्प के अन्दर और आत्मायें भी पावन होली बनती हैं। जैसे पावन आत्मायें धर्मपिता के रूप में धर्म स्थापन करने के निमित्त बनती हैं। साथ-साथ कई महान आत्मायें कहलाने वाले भी पावन बनते हैं लेकिन उन्हों के पावन बनने में और आप पावन आत्माओं में अन्तर है। आपके पावन बनने का साधन अति सहज है। कोई मेहनत नहीं क्योंकि बाप से आप आत्माओं को सुख शान्ति पवित्रता का वर्सा सहज मिलता है। इस स्मृति से सहज और स्वत: ही अविनाशी बन जाते! दुनिया वाले पावन बनते हैं लेकिन मेहनत से। और उन्हें 21 जन्मों के वर्से के रूप में पवित्रता नहीं प्राप्त होती है। आज दुनिया के हिसाब से होली का दिन कहते हैं। वह होली मनाते और आप स्वयं ही परमात्म रंग में रंगने वाले होली आत्मायें बन जाते हो। मनाना थोड़े समय के लिए होता है, बनना जीवन के लिए होता है। वह दिन मनाते और आप होली जीवन बनाते हो। यह संगमयुग होली जीवन का युग है। तो रंग में रंग गये अर्थात् अविनाशी रंग लग गया। जो मिटाने की आवश्यकता नहीं। सदाकाल के लिए बाप समान बन गये। संगमयुग पर निराकार बाप समान कर्मातीत, निराकारी स्थिति का अनुभव करते हो और 21 जन्म ब्रह्मा बाप समान सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी श्रेष्ठ जीवन का समान अनुभव करते हो। तो आपकी होली है संग के रंग में बाप समान बनना। ऐसा पक्का रंग हो जो समान बना दो। ऐसी होली दुनिया में कोई खेलते हैं? बाप, समान बनाने की होली खेलने आते हैं। कितने भिन्न-भिन्न रंग बाप द्वारा हर आत्मा पर अविनाशी चढ़ जाते हैं। ज्ञान का रंग, याद का रंग, अनेक शक्तियों के रंग, गुणों के रंग, श्रेष्ठ दृष्टि, श्रेष्ठ वृत्ति, श्रेष्ठ भावना, श्रेष्ठ कामना स्वत: सदा बन जाए, यह रूहानी रंग कितना सहज चढ़ जाता है। होली बन गये अर्थात् होली हो गये। वह होली मनाते हैं, जैसे गुण हैं वैसा रूप बन जाते हैं। उसी समय कोई उन्हों का फोटो निकाले तो कैसा लगेगा। वह होली मनाकर क्या बन जाते और आप होली मनाते हो तो फरिश्ता सो देवता बन जाते हो। है सब आपका ही यादगार लेकिन आध्यात्मिक शक्ति न होने के कारण आध्यात्मिक रूप से नहीं मना सकते हैं। बाहरमुखता होने कारण बाहरमुखी रूप से ही मनाते रहते हैं। आपका यथार्थ रूप से मंगल मिलन मनाना है।

होली की विशेषता है जलाना, फिर मनाना और फिर मंगल मिलन करना। इन तीन विशेषताओं से यादगार बना हुआ है क्योंकि आप सभी ने होली बनने के लिए पहले पुराने संस्कार, पुरानी स्मृतियाँ सभी को योग अग्नि से जलाया तभी संग के रंग में होली मनाया अर्थात् बाप समान संग का रंग लगाया। जब बाप के संग का रंग लग जाता है तो हर आत्मा के प्रति विश्व की सर्व आत्मायें परमात्म परिवार बन जाते हैं। परमात्म परिवार होने के कारण हर आत्मा के प्रति शुभ कामना स्वत: ही नेचुरल संस्कार बन जाती है इसलिए सदा एक दो में मंगल मिलन मनाते रहते हैं। चाहे कोई दुश्मन भी हो, आसुरी संस्कार वाले हों लेकिन इस रूहानी मंगल मिलन से उनको भी परमात्म रंग का छींटा जरूर डालते। कोई भी आपके पास आयेगा तो क्या करेगा? सबसे गले मिलना अर्थात् श्रेष्ठ आत्मा समझ गले मिलना। यह बाप के बच्चे हैं। यह प्यार का मिलन, शुभ भावना का मिलन, उन आत्माओं को भी पुरानी बातें भुला देता है। वह भी उत्साह में आ जाते इसलिए उत्सव के रूप में यादगार बना लिया है। तो बाप से होली मनाना अर्थात् अविनाशी रूहानी रंग में बाप समान बनना। वह लोग तो उदास रहते हैं इसलिए खुशी मनाने के लिए यह दिन रखे हैं। और आप लोग तो सदा ही खुशी में नाचते गाते, मौज मनाते रहते हो। जो ज्यादा मूँझते हैं- क्या हुआ, क्यों हुआ, कैसे हुआ वह मौज में नहीं रह सकते। आप त्रिकालदर्शी बन गये तो फिर क्या, क्यों, कैसे यह संकल्प उठ ही नहीं सकते क्योंकि तीनों कालों को जानते हो। क्यों हुआ? जानते हैं पेपर है आगे बढ़ने लिए। क्यों हुआ? नथिंग न्यू। तो क्या हुआ का क्वेश्चन ही नहीं। कैसे हुआ? माया और मजबूत बनाने के लिए आई और चली गई। तो त्रिकालदर्शी स्थिति वाले इसमें मूँझते नहीं। क्वेश्चन के साथ-साथ रेसपाण्ड पहले आता क्योंकि त्रिकालदर्शी हो। नाम त्रिकालदर्शी और वर्तमान को भी न जान सके, क्यों हुआ, कैसे हुआ तो उसको त्रिकलदर्शी कैसे कहेंगे! अनेक बार विजयी बने हैं और बनने वाले भी हैं। पास्ट और फ्युचर को भी जानते हैं कि हम ब्राह्मण सो फरिश्ता, फरिश्ता सो देवता बनने वाले हैं। आज और कल की बात है। क्वेश्चन समाप्त हो फुल स्टाप आ जाता है।

होली का अर्थ भी है होली, पास्ट इज़ पास्ट। ऐसे बिन्दी लगाने आती है ना! यह भी होली का अर्थ है। जलाने वाली होली भी आती। रंग में रंगने वाली होली भी आती और बिन्दी लगाने की होली भी आती। मंगल मिलन मनाने की होली भी आती। चारों ही प्रकार की होली आती है ना! अगर एक प्रकार भी कम होगी तो लाइट का ताज टिकेगा नहीं। गिरता रहेगा। ताज टाइट नहीं होता तो गिरता रहता है ना। चारों ही प्रकार की होली मनाने में पास हो? जब बाप समान बनना है तो बाप सम्पन्न भी है और सम्पूर्ण भी है। परसेन्टेज की स्टेज भी कब तक? जिससे स्नेह होता है तो स्नेही को समान बनने में मुश्किल नहीं होता। बाप के सदा स्नेही हो तो सदा समान क्यों नहीं। सहज है ना। अच्छा।

सभी सदा होली और हैपी रहने वाले होली हंसो को हाइएस्ट ते हाइएस्ट बाप समान होली बनने की अविनाशी मुबारक दे रहे हैं। सदा बाप समान बनने की, सदा होली युग में मौज मनाने की मुबारक दे रहे हैं। सदा होली हंस बन ज्ञान रत्नों से सम्पन्न बनने की मुबारक दे रहे हैं। सर्व रंगों में रंगे हुए पूज्य आत्मा बनने की मुबारक दे रहे हैं। मुबारक भी है और यादप्यार भी सदा है। और सेवाधारी बाप के मालिक बच्चों के प्रति नमस्ते भी सदा है। तो यादप्यार और नमस्ते।

आज मलेशिया ग्रुप है! साउथ ईस्ट। सभी यह समझते हो कि हम कहाँ-कहाँ बिखर गये थे। परमात्म परिवार के स्टीमर से उतर कहाँ-कहाँ कोने में चले गये। संसार सागर में खो गये क्योंकि द्वापर में आत्मिक बाम्ब के बजाए शरीर के भान का बाम्ब लगा। रावण ने बाम्ब लगा दिया तो स्टीमर टूट गया। परमात्म परिवार का स्टीमर टूट गया और कहाँ-कहाँ चले गये। जहाँ भी सहारा मिला। डूबने वाले को जहाँ भी सहारा मिलता है तो ले लेते हैं ना। आप सबको भी जिस धर्म, जिस देश का थोड़ा सा भी सहारा मिला वहाँ पहुँच गये। लेकिन संस्कार तो वही हैं ना इसलिए दूसरे धर्म में जाते भी अपने वास्तविक धर्म का परिचय मिलने से पहुँच गये। सारे विश्व में फैल गये थे। यह बिछुड़ना भी कल्याणकारी हुआ, जो अनेक आत्माओं को एक ने निकालने का कार्य किया। विश्व में परमात्म परिवार का परिचय देने के लिए कल्याणकारी बन गये। सब अगर भारत में ही होते तो विश्व में सेवा कैसे होती इसलिए कोने-कोने में पहुँच गये हो। सभी मुख्य धर्मों में कोई न कोई पहुँच गये हैं। एक भी निकलता है तो हमजिन्स को जगाते जरूर हैं। बापदादा को भी 5 हज़ार वर्ष के बाद बिछुड़े हुए बच्चों को देख करके खुशी होती है। आप सबको भी खुशी होती है ना। पहुँच तो गये। मिल तो गये।

मलेशिया का कोई वी. आई. पी. अभी तक नहीं आया है। सेवा के लक्ष्य से उन्हों को भी निमित्त बनाया जाता है। सेवा की तीव्रगति के निमित्त बन जाते हैं इसलिए उन्हों को आगे रखना पड़ता है। बाप के लिए तो आप ही श्रेष्ठ आत्मायें हो। रूहानी नशे में तो आप श्रेष्ठ हो ना। कहाँ आप पूज्य आत्मायें और कहाँ वह माया में फँसे हुए। अंजान आत्माओं को भी पहचान तो देनी है ना। सिंगापुर में भी अब वृद्धि हो रही है। जहाँ बाप के अनन्य रत्न पहुँचते हैं तो रत्न, रत्नों को ही निकालते हैं। हिम्मत रख सेवा में लगन से आगे बढ़ रहे हैं। तो मेहनत का फल श्रेष्ठ ही मिलेगा। अपने परिवार को इकट्ठा करना है। परिवार का बिछुड़ा हुआ, परिवार में पहुँच जाता है तो कितना खुश होते और दिल से शुक्रिया गाते। तो यह भी परिवार में आकर कितना शुक्रिया गाते होंगे। निमित्त बन बाप का बना लिया। संगम पर शुक्रिया की मालायें बहुत पड़ती हैं। अच्छा।

अव्यक्त महावाक्य – अखण्ड महादानी बनो।

महादानी अर्थात् मिले हुए खज़ाने बिना स्वार्थ के सर्व आत्माओं प्रति देने वाले – नि:स्वार्थी। स्व के स्वार्थ से परे आत्मा ही महादानी बन सकती है। दूसरों की खुशी में स्वयं खुशी का अनुभव करना भी महादानी बनना है। जैसे सागर सम्पन्न है, अखुट है, अखण्ड है, ऐसे आप बच्चे भी मास्टर, अखण्ड, अखुट खज़ानों के मालिक हो। तो जो खज़ाने मिले हैं उन्हें महादानी बन औरों के प्रति कार्य में लगाते रहो। जो भी सम्बन्ध में आने वाली भक्त वा साधारण आत्मायें हैं उनके प्रति सदा यही लगन रहे कि इन्हें भक्ति का फल मिल जाए। जितना रहमदिल बनेंगे उतना ऐसी भटकती हुई आत्माओं को सहज रास्ता बतायेंगे।

आपके पास सबसे बड़े से बड़ा खजाना खुशी का है, आप इस खुशी के खज़ाने का दान करते रहो। जिसको खुशी देंगे वह बार-बार आपको धन्यवाद देगा। दु:खी आत्माओं को खुशी का दान दे दिया तो आपके गुण गायेंगे। इसमें महादानी बनो, खुशी का खज़ाना बांटो। अपने हमजिन्स को जगाओ। रास्ता दिखाओ। अब समय प्रमाण अपनी हर कर्मेन्द्रिय द्वारा महादानी वा वरदानी बनो। मस्तक द्वारा सर्व को स्व-स्वरूप की स्मृति दिलाओ। नयनों द्वारा स्वदेश और स्वराज्य का रास्ता दिखाओ। मुख द्वारा रचयिता और रचना के विस्तार को स्पष्ट कर ब्राह्मण सो देवता बनने का वरदान दो। हस्तों द्वारा सदा सहज योगी, कर्मयोगी बनने का वरदान दो। चरण कमल द्वारा हर कदम फालो फादर कर हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने के वरदानी बनो, ऐसे हर कर्मेन्द्रिय से महादान, वरदान देते चलो। मास्टर दाता बन परिस्थितियों को परिवर्तन करने का, कमजोर को शक्तिशाली बनाने का, वायुमण्डल वा वृत्ति को अपनी शक्तियों द्वारा परिवर्तन करने का, सदा स्वयं को कल्याण अर्थ जिम्मेवार आत्मा समझ हर बात में सहयोग वा शक्ति के महादान वा वरदान देने का संकल्प करो। मुझे देना है, मुझे करना है, मुझे बदलना है, मुझे निर्माण बनना है। ऐसे ”ओटे सो अर्जुन” अर्थात् दातापन की विशेषता धारण करो।

अब हरेक आत्मा प्रति विशेष अनुभवी मूर्त बन, विशेष अनुभवों की खान बन, अनुभवी मूर्त बनाने का महादान करो। जिससे हर आत्मा अनुभव के आधार पर अंगद समान बन जाए। चल रहे हैं, कर रहे हैं, सुन रहे हैं, सुना रहे हैं, नहीं। लेकिन अनुभवों का खजाना पा लिया – ऐसे गीत गाते खुशी के झूले में झूलते रहें। आप बच्चों को जो भी खजाने बाप द्वारा मिले हैं, उन्हें बाँटते रहो अर्थात् महादानी बनो। सदैव कोई भी आवे तो आपके भण्डारे से खाली न जाए। आप सब बहुकाल के साथी हो और बहुकाल के राज्य अधिकारी हो। तो अन्त की कमजोर आत्माओं को महादानी, वरदानी बन अनुभव का दान और पुण्य करो। यह पुण्य आधाकल्प के लिए आपको पूजनीय और गायन योग्य बना देगा। आप सब ज्ञान के खज़ाने से सम्पन्न धन की देवियाँ हो। जब से ब्राह्मण बने हो तब से जन्मसिद्ध अधिकार में ज्ञान का, शक्तियों का खज़ाना मिला है। इस खजाने को स्व के प्रति और औरों के प्रति यूज़ करो तो खुशी बढ़ेगी, इसमें महादानी बनो। महादानी अर्थात् सदा अखण्ड लंगर (भण्डारा) चलता रहे।

ईश्वरीय सेवा का बड़े-से-बड़ा पुण्य है – पवित्रता का दान देना। पवित्र बनना और बनाना ही पुण्य आत्मा बनना है क्योंकि किसी आत्मा को आत्मघात महा पाप से छुड़ाते हो। अपवित्रता आत्मघात है। पवित्रता जीयदान है। पवित्र बनो और बनाओ – यही महादान कर पुण्य आत्मा बनो। महादानी अर्थात् बिल्कुल निर्बल, दिलशिकस्त असमर्थ आत्मा को एकस्ट्रा बल दे करके रूहानी रहमदिल बनना। महादानी अर्थात् बिल्कुल होपलेस केस में होप (उम्मींद) पैदा करना। तो मास्टर रचयिता बन प्राप्त हुई शक्तियों व प्राप्त हुए ज्ञान, गुण, व सर्व खज़ाने औरों के प्रति महादानी बनकर देते चलो। दान सदा बिल्कुल ग़रीब को दिया जाता है। बेसहारे को सहारा दिया जाता है। तो प्रजा के प्रति महादानी व अन्त में भक्त आत्माओं के प्रति महादानी बनो। आपस में एक दूसरे के प्रति ब्राह्मण महादानी नहीं। वह तो आपस में सहयोगी साथी हो। भाई-भाई हो व हमशरीक पुरूषार्थी हो। उन्हें सहयोग दो। अच्छा।

वरदान:- पावरफुल वृत्ति द्वारा मन्सा सेवा करने वाले विश्व कल्याणकारी भव
विश्व की तडपती हुई आत्माओं को रास्ता बताने के लिए साक्षात बाप समान लाइट हाउस, माइट हाउस बनो। लक्ष्य रखो कि हर आत्मा को कुछ न कुछ देना है। चाहे मुक्ति दो चाहे जीवन-मुक्ति। सर्व के प्रति महादानी और वरदानी बनो। अभी अपने-अपने स्थान की सेवा तो करते हो लेकिन एक स्थान पर रहते मन्सा शक्ति द्वारा वायुमण्डल, वायब्रेशन द्वारा विश्व सेवा करो। ऐसी पावरफुल वृत्ति बनाओ जिससे वायुमण्डल बने – तब कहेंगे विश्व कल्याणकारी आत्मा।
स्लोगन:- अशरीरी पन की एक्सरसाइज और व्यर्थ संकल्प रूपी भोजन की परहेज से स्वयं को तन्दरूस्त बनाओ।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय अपने आकारी फरिश्ते स्वरूप में स्थित हो, भक्तों की पुकार सुनें और उपकार करें। मास्टर दयालु, कृपालु बन सभी पर रहम की दृष्टि डालें। मुक्ति जीवनमुक्ति का वरदान दें।

TODAY MURLI 20 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 19 September 2019:- Click Here

20/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, here, you receive the love of the family path because the Father says from His heart: My children. You receive the inheritance from the Father. A guru, a bodily being, cannot give this love.
Question: What are the signs of the children who have imbibed this knowledge and have shrewd intellects?
Answer: They have an interest in relating knowledge to others. Their intellects do not wander to friends and relatives etc. Those who have shrewd intellects never yawn etc. whilst studying. They never sit in school with their eyes closed. The children who sit here like crazy people, whose intellects wander here and there, would not understand knowledge. It is very difficult for them to remember the Father.

Om shanti. This is a meeting of the Father and the children. This is not a gathering of a guru and his disciples or followers. Those gurus’ vision is that they are their followers or students. Their vision has become less for them. They look at those people with just that vision. They would not look at the souls. They only see bodies and their disciples too sit in body consciousness. The disciples consider that person to be their guru. Their vision is: That one is our guru. They have regard for their guru. There is a lot of difference here. Here, the Father has regard for the children. He knows that He has to teach you children. He has to teach you children how the world cycle turns and He also has to explain the unlimited history and geography. Those gurus don’t have love in their hearts (for their followers) as though they are their children. The Father has a lot of love for the children and the children too have love for the Father. You know that Baba is telling you the knowledge of the world cycle. What do those people teach? They have been relating scriptures etc. for half the cycle; they have been performing physical rituals of the path of devotion and teaching the Gayatri mantra etc. The Father has come and is giving you His introduction. We didn’t know the Father at all. We used to call Him omnipresent. Whenever you ask them: “Where is God?” they would instantly reply that He is omnipresent. When people come to you and they ask you: “What do you teach here?” tell them: We teach Raj Yoga through which you change from human beings into deities, that is, you become kings. There is no other spiritual gathering where they say that they give teachings to change human beings into deities. The deities exist in the golden age and human beings exist in the iron age. We now explain to you the secrets of the world cycle through which you will become the rulers of the globe. We also show you a very good way to become pure. No one else can teach you such a method. This is easy Raj Yoga. The Father is the Purifier. He is also the Almighty Authority and so, by remembering Him, your sins will be burnt away because yoga is a fire. So, you are taught new things here. This is the path of knowledge. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. Knowledge and devotion are separate. The Father has to come to teach you knowledge because He alone is the Ocean of Knowledge. He Himself comes and gives you His introduction: I am the Father of everyone. I make the whole world pure through Brahma. The golden age is the pure world and the iron age is the impure world. So, this is the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. This is called the leap age. We take a jump in this age. Where to? We jump from the old world to the new world. Those people have been coming down the ladder gradually. Here, we take a jump from the dirty world to the new world. We go directly up above. We leave the old world and go to the new world. This is an unlimited matter. There are many people in the unlimited old world. There are very few human beings in the new world which is called heaven. Everyone there remains pure. In the iron age, everyone is impure. Ravan makes you impure. We explain to everyone: You are now in the kingdom of Ravan, that is, in the old world. Originally, you were in the kingdom of Rama which was called heaven. We can now tell you that we have been around the cycle of 84 births and have come down. Those who are very good and sensible will quickly understand. Those, in whose intellects this doesn’t sit, will sit there like crazy people looking around here and there. They will not listen with attention. It is said: You are like a crazy person. When sannyasis relate their stories, if someone is nodding off or his attention is going somewhere else, they would suddenly ask that person a question: What did I say? The Father too continues to look at everyone to make sure that no one is sitting here like a crazy person. Those who are very good, shrewd children will never yawn etc. while studying. It is not usual for anyone to sit in school with his eyes closed. They don’t understand knowledge at all. It is then very difficult for them to remember the Father. How can their sins be cut away? Those who have shrewd intellects imbibe everything very well and have an interest in sharing knowledge with others. When someone doesn’t have knowledge, his intellect wanders to friends and relatives. Here, the Father says: You have to forget everything else. Nothing should be remembered at the end. Baba has seen sannyasis etc. who are firm believers in the brahm element. They sit and remember the brahm element early in the morning and shed their bodies in that way. Their silence has a lot of impact. However, they cannot merge into the brahm element; they still have to take birth from a mother’s womb. The Father has explained: In fact, Krishna is called a great soul. People just say that without understanding. The Father explains: Shri Krishna is completely viceless, but he is not called a sannyasi, he is called a deity. Whether he is called a sannyasi or a deity is also significant. How did he become a deity? He became a deity from a sannyasi: he had unlimited renunciation and then went to the new world. Those people have limited renunciation; they cannot go into the unlimited. They have to take rebirth in the limited through vice. They cannot become masters of the unlimited. They cannot become a king or queen because their religion is separate. The religion of renunciation is not the deity religion. The Father says: I destroy irreligiousness and establish the deity religion. Vice is also irreligious. This is why the Father says: I have to come to destroy all of that in order to establish the one original eternal deity religion. When there was the golden age in Bharat, there was just the one religion. That religion then becomes irreligious. You are now once again establishing the original eternal deity religion. However much effort each one makes, so the status he claims is accordingly high. You have to have the faith that each of you is a soul. You may live at home with your family but, while doing that, you can make this firm as much as possible while walking and moving around. Devotees wake up early in the morning, go into solitude and turn the beads of a rosary. Your account is for the whole day: At this time, I had this much remembrance. Throughout the whole day, I had this much remembrance. You then have a total. Those people wake up in the morning and turn the beads of a rosary, even though they may not be real devotees. The intellects of some continue to wander outside everywhere. You now understand that there is no benefit in doing devotion. This is knowledge through which there is a lot of benefit. It is now your stage of ascending. The Father repeatedly tells you: Manmanabhav! These words are also mentioned in the Gita, but no one would be able to tell you the meaning of them. No one would know how to respond to you. In fact, its meaning is written: Consider yourself to be a soul, renounce all bodily religions and constantly remember Me alone. These are the versions of God. However, in their intellects, Krishna is God. He is a bodily being who takes rebirth. How can he be called God? So, none of the sannyasis etc. have the vision of father and child. Although Gandhiji was called Bapuji (father), you would not call that a relationship of father and child. He was a corporeal being. It is explained to you that you have to consider yourselves to be souls. The Father who is sitting in this one is the unlimited Bapuji (Father). You receive an inheritance from both the lokik and parlokik fathers. You didn’t receive anything from Bapuji. Achcha, Bharat received its independence but that cannot be called an inheritance. It should have received happiness. There are two inheritances. One is from a limited father and the other is from the unlimited Father. You don’t receive an inheritance from Brahma. Although he is the Father of all Humanity, he is called the great-great-grandfather. He himself says: You don’t receive any inheritance from me. Since this one himself says that you don’t receive any inheritance from him, what would you be able to receive from that Bapuji? Nothing at all! The British departed. What is there now? Hunger strikes! Picketing and strikes etc. continue to take place. There continues to be so much violence. They have no fear of anyone. They even kill senior officers. Instead of happiness, there is even more sorrow. It is a matter of the unlimited here only. The Father says: First of all, have the firm faith: I am a soul, not a body. The Father has adopted me; I am an adopted child. It is explained to you that the Father, the Ocean of Knowledge, has come and that He explains to you the secrets of the world cycle. No one else can explain these. The Father says: Forget your body and all bodily religions and constantly remember Me alone. You definitely have to become satopradhan. You also know that the old world is definitely going to be destroyed. There are very few people in the new world. There is so much difference between millions of souls and only 900,000. Where will all the souls go? It is now in your intellects that all of us souls were up above. We then came here to play our parts. A soul is called an actor. The soul acts through this body. The soul needs his organs. The soul is so tiny. There are not 8.4 million births. If everyone were to take 8.4 million births, how would that part repeat? You would not remember anything. It would be beyond your memory. You can not even remember 84 births; you forget them. You children now have to remember the Father and definitely become pure. Your sins will be burnt away in this fire of yoga. You also have the faith that you claim your unlimited inheritance from the unlimited Father every cycle. Now, in order for you to become residents of heaven, the Father has said: Constantly remember Me alone because I alone am the Purifier. You have been calling out to the Father, and so the Father has come to make you pure. Deities are pure whereas human beings are impure. You have to become pure and go to the land of peace. Do you want to go to the land of peace or the land of happiness? Sannyasis say that happiness is like the droppings of a crow and that they want peace. Therefore, they cannot go to the golden age. In the golden age, there was the religion of the household path. The deities were viceless and they became impure as they took rebirth. The Father now says: You have to become viceless. If you want to go to heaven, remember Me and your sins will be cut away and you will become a pure and charitable soul and then go to the land of peace and the land of happiness. There was peace as well as happiness there. It is now the land of sorrow. The Father comes and once again establishes the land of happiness and destroys the land of sorrow. The images are also in front of you. Ask them: Where are you now standing? It is now the end of the iron age and destruction is just ahead. Only a small piece will remain. There are not as many continents there. The Father alone sits here and explains to you the history and geography of the world. This is a school. God speaks: First of all, you have to give the introduction of the Father. You now have to go from the iron age to the golden age. There, there is nothing but happiness. To remember the One is unadulterated remembrance. You also have to forget your bodies. You came from the land of peace and you have to return to the land of peace. No impure beings can go there. You have to become pure by remembering the Father and then go to the land of liberation. You have to sit and explain this very clearly. Previously, you didn’t have all of these pictures. Everything used to be explained to you in a nutshell without pictures. You have to change from human beings into deities in this school. This is knowledge for the new world. Only the Father gives this. The Father’s vision remains on you children. He teaches us souls. You also have to explain that the unlimited Father explains to you. His name is Shiv Baba. When you say, “Unlimited Baba”, they become confused because there are many Babas. Even the mayor of a municipality is called Baba. The Father says: I enter this one but, even then, my name is still Shiva. I give you knowledge through this chariot. I have adopted this one and named him Prajapita Brahma. He too receives the inheritance from Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. It is now time to take a jump from the old world to the new world. Therefore, have unlimited renunciation of the old world. Remove it from your intellect.
  2. Pay full attention to the study. It is not usual for students to sit in school with their eyes closed. Pay attention that your intellect does not wander here and there at the time of studying and that you don’t yawn. Whatever you hear, continue to imbibe it.
Blessing: May you check and change yourself according to the time and become a constantly elevated, victorious soul.
Those who are true Raj yogis can never be disturbed by any adverse situation. So, according to the time, check yourself in this way and after checkingchange yourself. If you simply check yourself, you will become disheartened and think, “I have this weakness and I don’t know whether it will be put right or not”. Therefore, check and change yourself because those who do everything according to the time are constantly victorious. So become an elevated soul who is constantly victorious and claim number one through your intense efforts.
Slogan: Practise controlling your mind and intellect and you will be able to become bodiless in a second.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 September 2019

To Read Murli 19 September 2019:- Click Here
20-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – “तुम्हें यहाँ प्रवृत्ति मार्ग का लव मिलता है क्योंकि बाप दिल से कहते हैं – मेरे बच्चे, बाप से वर्सा मिलता है, यह लव देहधारी गुरू नहीं दे सकते”
प्रश्नः- जिन बच्चों की बुद्धि में ज्ञान की धारणा है, शुरूड बुद्धि हैं – उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उन्हें दूसरों को सुनाने का शौक होगा। उनकी बुद्धि मित्र-सम्बन्धियों आदि में भटकेगी नहीं। शुरूड बुद्धि जो होते हैं, वह पढ़ाई में कभी उबासी आदि नहीं लेंगे। स्कूल में कभी आंखें बन्द करके नहीं बैठेंगे। जो बच्चे तवाई होकर बैठते, जिनकी बुद्धि इधर-उधर भटकती रहती, वह ज्ञान को समझते ही नहीं, उनके लिए बाप को याद करना बड़ा मुश्किल है।

ओम् शान्ति। यह है बाप और बच्चों का मेला। गुरू और चेले अथवा शिष्यों का मेला नहीं है। इन गुरू लोगों की दृष्टि रहती है कि यह हमारे शिष्य हैं अथवा फालोअर्स वा जिज्ञासू हैं। हल्की दृष्टि हो गई ना। वह उस दृष्टि से ही देखेंगे। आत्मा को नहीं। वह देखते हैं शरीरों को और वह चेले भी देह-अभिमानी होकर बैठते हैं। उनको अपना गुरू समझते हैं, दृष्टि ही वह रहती है कि हमारा गुरू है। गुरू के लिए रिगार्ड रखते हैं। यहाँ तो बहुत फर्क है, यहाँ बाप ही बच्चों का रिगार्ड रखते हैं। जानते हैं इन बच्चों को पढ़ाना है। यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी बच्चों को समझानी है। उन गुरूओं की दिल में बच्चे का लॅव नहीं होगा। बाप के पास तो बच्चों का बहुत लॅव रहता है और बच्चों का भी बाप पर लॅव रहता है। तुम जानते हो बाबा तो हमको सृष्टि चक्र का ज्ञान सुनाते हैं। वह क्या सिखाते हैं? आधाकल्प शास्त्र आदि सुनाते, भक्ति के कर्मकाण्ड करते, गायंत्री, संध्या आदि सिखाते रहते हैं। यह तो बाप आया हुआ है अपना परिचय दे रहे हैं। हम बाप को बिल्कुल नहीं जानते थे। सर्वव्यापी ही कह देते थे। कभी भी पूछो परमात्मा कहाँ है तो झट कहेंगे वह तो सर्वव्यापी है। तुम्हारे पास मनुष्य जब आते हैं तो पूछते हैं यहाँ क्या सिखाया जाता है? बोलो, हम राजयोग सिखाते हैं, जिससे तुम मनुष्य से देवता अर्थात् राजा बन सकते हो और कोई सतसंग ऐसा नहीं होगा जो कहे हम मनुष्य से देवता बनने की शिक्षा देते हैं। देवतायें होते हैं सतयुग में। कलियुग में हैं मनुष्य। अब हम तुमको सारे सृष्टि चक्र का राज़ समझाते हैं, जिससे तुम चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे और फिर तुमको पावन बनने की बहुत अच्छी युक्ति बताते हैं। ऐसी युक्ति कभी कोई समझा न सके। यह है सहज राजयोग। बाप है पतित-पावन। वह सर्वशक्तिमान भी है तो उनको याद करने से ही पाप भस्म होंगे क्योंकि योग अग्नि है ना। तो यहाँ नई बात सिखलाते हैं।

यह ज्ञान मार्ग है। ज्ञान सागर एक ही बाप होता है। ज्ञान और भक्ति अलग-अलग है। ज्ञान सिखाने लिए बाप को आना पड़ता है क्योंकि वही ज्ञान का सागर है। वह खुद आकर अपना परिचय देते हैं कि मैं सबका बाप हूँ। ब्रह्मा द्वारा सारी सृष्टि को पावन बनाता हूँ। पावन दुनिया है सतयुग। पतित दुनिया है कलियुग। तो सतयुग आदि, कलियुग अन्त का यह है संगमयुग। इनको लीप युग कहा जाता है। इसमें हम जम्प मारते हैं। कहाँ? पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जम्प मारते हैं। वह तो सीढ़ी से आहिस्ते-आहिस्ते नीचे उतरते आये। यहाँ तो हम छी-छी दुनिया से नई दुनिया में एकदम जम्प मारते हैं। सीधा चले जाते हैं ऊपर। पुरानी दुनिया को छोड़ हम नई दुनिया में जाते हैं। यह है बेहद की बात। बेहद की पुरानी दुनिया में ढेर मनुष्य हैं। नई दुनिया में तो बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं जिसको स्वर्ग कहा जाता है। वहाँ सब पवित्र रहते हैं। कलियुग में हैं सब अपवित्र। अपवित्र रावण बनाते हैं। यह तो सबको समझाते हैं कि तुम अब रावण राज्य अथवा पुरानी दुनिया में हो। असल में रामराज्य में थे जिसको स्वर्ग कहा जाता था। फिर कैसे 84 का चक्र लगाकर नीचे गिरे हो, सो तो हम बता सकते हैं। जो अच्छे समझदार होंगे वह झट समझेंगे, जिसको बुद्धि में नहीं आयेगा वह तो तवाई के मिसल इधर-उधर देखते रहेंगे। अटेन्शन से सुनेंगे नहीं। कहते हैं ना तुम तो जैसे तवाई हो। सन्यासी लोग भी जब कथा बैठ सुनाते हैं तो कोई झुटका खाते हैं या अटेन्शन और तरफ रहता है तो अचानक उनसे पूछते हैं क्या सुनाया? बाप भी सबको देखते रहते हैं। कोई तवाई तो नहीं बैठे हैं। अच्छे शुरूड बच्चे जो होते हैं वह पढ़ाई में कभी उबासी आदि नही लेंगे। स्कूल में कभी कोई आंखे बन्द करके बैठें यह तो कायदा नहीं। कुछ भी ज्ञान को समझते नहीं। बाप को याद करना, उन्हों के लिए बड़ा मुश्किल है, फिर पाप कैसे कटें। शुरूड बुद्धि तो अच्छी रीति से धारण कर औरों को सुनाने का शौक रखते हैं। ज्ञान नहीं है तो बुद्धि मित्र-सम्बन्धियों के तरफ भटकती रहती है। यहाँ तो बाप कहते हैं और सब कुछ भूल जाना है। पिछाड़ी में कुछ भी याद न आये। बाबा ने सन्यासियों आदि को देखा हुआ है जो पक्के ब्रह्म ज्ञानी होते हैं, सवेरे ऐसे बैठे-बैठे ब्रह्म महतत्व को याद करते-करते शरीर छोड़ देते हैं। उनके शान्ति का प्रवाह बहुत होता है। अब वह ब्रह्म में लीन तो हो न सकें। फिर भी माता के गर्भ से जन्म लेना पड़ता है।

बाप ने समझाया है वास्तव में महात्मा तो कृष्ण को कहा जाता है। मनुष्य तो बिगर अर्थ समझे ऐसे ही कह देते हैं। बाप समझाते हैं श्रीकृष्ण है सम्पूर्ण निर्विकारी, परन्तु उनको सन्यासी नहीं, देवता कहा जाता है। सन्यासी कहना वा देवता कहना उनका भी अर्थ है। यह देवता कैसे बना? सन्यासी से देवता बना। बेहद का सन्यास किया फिर चले गये नई दुनिया में। वह तो हद का सन्यास करते हैं। बेहद में जा न सकें। हद में ही पुनर्जन्म लेना पड़े, विकार से। बेहद का मालिक बन न सकें। राजा-रानी कभी बन न सकें क्योंकि उन्हों का धर्म ही अलग है। सन्यास धर्म देवी-देवता धर्म नहीं है। बाप कहते हैं मैं अधर्म विनाश कर देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ। विकार भी अधर्म है ना, इसलिए बाप कहते हैं इन सबका विनाश और एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करने मुझे आना पड़ता है। भारत में जब सतयुग था तो एक ही धर्म था, वही धर्म फिर अधर्म बनता है। अब तुम फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन कर रहे हो। जो जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। अपने को आत्मा निश्चय करना है। भल गृहस्थ व्यवहार में रहो। उसमें भी जितना हो सके उठते-बैठते यह पक्का करो, जैसे भक्त लोग सवेरे उठकर एकान्त में बैठ माला जपते हैं, तुम तो सारे दिन का हिसाब निकालते हो। फलाने समय इतनी याद रही, सारे दिन में इतना समय याद रही, टोटल निकालते हो। वह तो सवेरे उठकर माला फेरते हैं, भल कोई सच्चे भक्त नही होते हैं। कईयों की बुद्धि तो बाहर कहाँ-कहाँ भटकती रहती है। अभी तुम समझते हो भक्ति से फायदा कुछ भी नहीं मिलना है। यह तो है ज्ञान, जिससे बहुत फायदा होता है। अभी तुम्हारी है चढ़ती कला। बाप घड़ी-घड़ी कहते मनमनाभव। गीता में भी अक्षर हैं परन्तु उसका अर्थ कोई भी सुना नहीं सकेंगे। जवाब देने आयेगा नहीं। वास्तव में उसका अर्थ लिखा हुआ भी है अपने को आत्मा समझ, देह के सब धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। भगवानुवाच है ना। परन्तु उनकी बुद्धि में है कृष्ण भगवान। वह तो देहधारी पुनर्जन्म में आने वाला है ना। उनको भगवान कैसे कह सकते हैं। तो सन्यासी आदि किसी की भी दृष्टि बाप और बच्चों की नहीं हो सकती है। भल गांधी जी को बापू जी कहते थे परन्तु बाप-बच्चे का सम्बन्ध नहीं कहेंगे। वह तो फिर भी साकार हो गया ना। तुमको तो समझाया है अपने को आत्मा समझो। इसमें जो बाप बैठा है वह है बेहद का बापू जी। लौकिक और पारलौकिक दोनों बाप से वर्सा मिलता है। बापू जी से तो कुछ भी नहीं मिला। अच्छा, भारत की राजधानी वापस मिली परन्तु यह वर्सा तो नहीं कहेंगे। सुख मिलना चाहिए ना।

वर्से होते ही हैं दो – एक हद के बाप का, दूसरा बेहद के बाप का। ब्रह्मा से भी कोई वर्सा नहीं मिलता है। भल सारी प्रजा का वह पिता है, उनको कहते हैं ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। वह खुद कहते हैं मेरे से तुमको कुछ भी वर्सा नहीं मिलता, जबकि यह खुद कहते हैं मेरे से वर्सा नहीं मिल सकता, तो उस बापू जी से फिर क्या वर्सा मिल सकेगा। कुछ भी नहीं। अंग्रेज तो चले गये। अभी क्या है? भूख हड़ताल, पिकेटिंग, स्ट्राइक आदि होती रहती, कितनी मारामारी होती रहती है। कोई का डर नहीं है। बड़े-बड़े आफीसर्स को भी मार देते हैं। सुख के बजाए और दु:ख है। तो बेहद की बात यहाँ ही है। बाप कहते हैं पहले-पहले तो यह पक्का निश्चय करो कि हम आत्मा हैं, शरीर नहीं। बाप ने हमको एडाप्ट किया है, हम एडाप्टेड बच्चे हैं। तुमको समझाया जाता है बाप ज्ञान का सागर आया है और सृष्टि चक्र का राज़ समझाते हैं। दूसरा कोई समझा न सके। बाप कहते हैं देह सहित देह के सब धर्मो को भूल, मामेकम् याद करो। सतोप्रधान जरूर बनना पड़ेगा। यह भी जानते हो पुरानी दुनिया का विनाश तो होना ही है। नई दुनिया में बहुत थोड़े होते हैं। कहाँ इतनी करोड़ों आत्मायें और कहाँ 9 लाख। इतने सब कहाँ जायेंगे? अब तुम्हारी बुद्धि में है कि हम सब आत्मायें ऊपर में थी। फिर यहाँ आई है पार्ट बजाने। आत्मा को ही एक्टर कहेंगे। आत्मा एक्ट करती है इस शरीर के साथ। आत्मा को आरगन्स तो चाहिए ना। आत्मा कितनी छोटी है। 84 लाख जन्म हैं नहीं। हर एक अगर 84 लाख जन्म ले फिर पार्ट रिपीट कैसे करेंगे। याद नहीं रह सकता। स्मृति से बाहर चला जाए। 84 जन्म भी तुमको याद नहीं रहते, भूल जाते हो। अब तुम बच्चों को बाप को याद कर पवित्र जरूर बनना है। इस योग अग्नि से विकर्म विनाश होंगे। यह भी निश्चय है – बेहद के बाप से बेहद का वर्सा हम कल्प-कल्प लेते हैं। अब फिर स्वर्गवासी बनने के लिए बाप ने कहा है कि मामेकम् याद करो क्योंकि मैं ही पतित-पावन हूँ। तुमने बाप को पुकारा है ना, तो अब बाप आये हैं पावन बनाने। पावन होते हैं देवता, पतित होते हैं मनुष्य। पावन बनकर फिर शान्तिधाम में जाना है। तुम शान्तिधाम जाना चाहते हो या सुखधाम आना चाहते हो? सन्यासी तो कहते हैं सुख काग विष्टा के समान है, हमको शान्ति चाहिए। तो वह सतयुग में कभी आ नहीं सकेंगे। सतयुग में था प्रवृत्ति मार्ग का धर्म। देवतायें निर्विकारी थे वही पुनर्जन्म लेते-लेते पतित बनते हैं। अब बाप कहते हैं निर्विकारी बनना है। स्वर्ग में चलना है तो मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायें, पुण्य आत्मा बन जायेंगे फिर शान्तिधाम-सुखधाम में जायेंगे। वहाँ शान्ति भी थी, सुख भी था। अभी है दु:खधाम। फिर बाप आकर सुखधाम की स्थापना करते हैं, दु:खधाम का विनाश। चित्र भी सामने हैं। बोलो, अभी तुम कहाँ खड़े हो? अभी है कलियुग का अन्त, विनाश सामने खड़ा है। बाकी जाकर थोड़ा टुकड़ा रहेगा। इतने खण्ड तो वहाँ होते नहीं। यह सब वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी बाप ही बैठ समझाते हैं। यह पाठशाला है। भगवानुवाच, पहले-पहले बाप का परिचय देना पड़ता है। अभी कलियुग है फिर सतयुग में जाना है। वहाँ तो सुख ही सुख होता है। एक को याद करना – वह है अव्यभिचारी याद। शरीर को भी भूल जाना है। शान्तिधाम से आये हैं फिर शान्तिधाम में जाना है। वहाँ पतित कोई जा न सके। बाप को याद करते-करते पावन बन तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे। यह अच्छी रीति बैठ समझाना पड़ता है। आगे इतने सब चित्र थोड़ेही थे। बिगर चित्र भी नटशेल में समझाया जाता था। इस पाठशाला में मनुष्य से देवता बन जाना है। यह है नई दुनिया के लिए नॉलेज। वह बाप ही देंगे ना। तो बाप की दृष्टि रहती है बच्चों पर। हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। तुम भी समझाते हो बेहद का बाप हमको समझाते हैं, उनका नाम है शिवबाबा। सिर्फ बेहद का बाबा कहने से भी मूँझ जायेंगे क्योंकि बाबायें भी बहुत हो गये हैं। म्युनिसपाल्टी के मेयर को भी कहते हैं बाबा। बाप कहते हैं मैं इसमें आता हूँ तो भी मेरा नाम शिव ही है। मैं इस रथ द्वारा तुमको नॉलेज देता हूँ, इनको एडाप्ट किया है। इनका नाम रखा है प्रजापिता ब्रह्मा। इनको भी मेरे से वर्सा मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अभी पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जम्प देने का समय है इसलिए इस पुरानी दुनिया से बेहद का सन्यास करना है। इसे बुद्धि से भूल जाना है।

2) पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन देना है। स्कूल में आंखे बन्द करके बैठना – यह कायदा नहीं है। ध्यान रहे – पढ़ाई के समय बुद्धि, इधर-उधर न भटके, उबासी न आये। जो सुनते जाएं वह धारण होता जाए।

वरदान:- समय प्रमाण स्वयं को चेक कर चेन्ज करने वाले सदा विजयी श्रेष्ठ आत्मा भव
जो सच्चे राजयोगी हैं वह कभी किसी भी परिस्थिति में विचलित नहीं हो सकते। तो अपने को समय प्रमाण इसी रीति से चेक करो और चेक करने के बाद चेंज कर लो। सिर्फ चेक करेंगे तो दिलशिकस्त हो जायेंगे। सोचेंगे कि हमारे में यह भी कमी है, पता नहीं ठीक होगा या नहीं इसलिए चेक करो और चेंज करो क्योंकि समय प्रमाण कर्तव्य करने वालों की सदा विजय होती है इसलिए सदा विजयी श्रेष्ठ आत्मा बन तीव्र पुरुषार्थ द्वारा नम्बरवन में आ जाओ।
स्लोगन:- मन-बुद्धि को कन्ट्रोल करने का अभ्यास हो तब सेकण्ड में विदेही बन सकेंगे।

TODAY MURLI 20 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 September 2018 :- Click Here

20/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, one drop of knowledge is to consider yourself to be a soul and to remember the Father. With this one drop, you can attain liberation and liberation-in-life.
Question: In which effort is progress for oneself and others merged?
Answer: 1) The effort to stay in remembrance. It is in this that progress for oneself and others is merged. When you children sit in remembrance, it is as though you are giving others a donation of peace. 2) Stop talking of body conscious and worldly things and speak of spiritual things and you will continue to make progress. You have to show (reveal) the Father. To the extent that you reveal the Father and show everyone the path to peace and happiness, to that extent you will receive a reward.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. People have been singing this on the path of devotion. People have been praising Him. Praise is of the Supreme Father, the Supreme Soul. Just as there are many types of praise and festivals on the path of devotion, so there is this praise too. This cannot be praise of any human being, sage or holy man. They sing: You are the Ocean of Knowledge. If we receive even one drop of knowledge, we will go away from here. Where will they go? To the land of liberation or liberation-in-life. They continue to praise Him but people don’t know His praise. You know it, numberwise, according to the effort you make. The significance of the two fathers has also been explained to you. One is your physical father and it is called body consciousness when you remember him. A soul remembers the father who gave him a body and he forgets his spiritual Father. This is the mistake. In fact, they haven’t forgotten, but the mistake they have made is saying that each soul is the Supreme Soul. They even say that they are living, embodied souls. “Do not distress my soul!” It is the soul that is distressed. A soul receives punishment in the jail of a womb and so he experiences sorrow while in a body. A soul feels that he is receiving sorrow when he is given a vision in the physical form. It has been explained to you children: First of all, practise: I am a soul. When you become body conscious, you remember your relatives: This one is my paternal uncle and this one is my maternal uncle. When you don’t have a body, you don’t have any relatives. This knowledge is of the soul. You wouldn’t call anyone Great Supreme Soul. After someone has died, the soul of that person is invoked. It wouldn’t be said that the Supreme Soul of such-and-such a person is invoked. Under no circumstances would any human being be called the Supreme Soul nor does the Supreme Soul enter into the cycle of birth and death. The Supreme Soul is beyond birth and death. Souls continue to take rebirth. You have understood that, first of all, there are the souls of the deities. The 84 births are only remembered in Bharat. You children know that the Ocean of Knowledge is now sitting personally in front of you. Only the Purifier is called the Ocean of Knowledge. Only the Father is called Gyaneshwar (God of Knowledge). Ishwar (God) has the knowledge of the beginning, middle and end of the world. God alone creates the world and this is how He has knowledge of creation. He is called the Creator and so the world He created definitely does exist; this is why He is called that. A creator is called a father. Brothers and sisters cannot be called a creator. It is always a father who is a creator. You children know that the Father is personally sitting in front of you. Someone may be sitting abroad and he would say that he is far away from his father, but he would still remember him, would he not? You too have to remember Him, but when you see your lokik relatives, you forget the parlokik Father and this is why Baba says: While sitting, standing and moving around, practise remembering the Father. I, the soul, am walking with this body. You have knowledge of the soul. You know that souls and the Supreme Soul remained separated for a long time; it is not said that the Supreme Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. It is said: Souls and the Supreme Soul. The Father is now sitting personally in front of you children. They say: Just one drop from You is enough. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of us souls. That is all. This is called knowledge. No one else would have the courage to say: I am the Father of all of you souls. He alone is called the Ocean of Knowledge and the Purifier. No one else would know how to say this. The Father Himself says: I am your Father. Truly, that great war is just ahead. There are the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. Everything depends on how you explain all of this. It is difficult for anyone to understand just by looking at the pictures unless a teacher explains them to him. Teachers explain at school: This is India and this is London. Nothing would enter anyone’s intellect without an explanation. When the name is written on a map, there is just the name, so one cannot understand where it is or who rules there. Here, too, everything has to be understood. Nowadays, there first of all has to be some splendour, so that people will come when they see that display. Very good people are needed to explain there (at exhibitions). Only children would explain that this one is Jagadamba, the one who fulfils everyone’s desires. They have shown Kamdhenu sitting under the tree. Therefore, many would come to meet her. There is Jagadpita (World Father) and so there must also be the World Mother. However, that one is called Jagadamba because the urn is given to you mothers. Jagadamba has been remembered as the main one, and then there is also her army. When you children hold exhibitions, very good children are needed to explain there. Baba has said: The main thing is to give the Father’s introduction. First of all, explain that there are two fathers: one is your lokik father and the other is your parlokik Father. You have been receiving a limited inheritance from your lokik father for birth after birth. Now claim the unlimited inheritance. A lot of time has gone by, a little remains. There is a huge burden of sins on your heads. Your sins can only be absolved by having yoga. This is not like going to your aunty’s home! As yet, one karmic account or another still remains and this is why you have to suffer for your past actions. It takes so much effort. If you come late, how many of your sins would you be able to have absolved? This is a difficulty, is it not? You have to beat the drums so that no one can complain later. You can say: We used to beat the drums and have it printed in the newspapers. As far as possible, everyone should receive an invitation. Make effort to claim the unlimited inheritance from the unlimited Father. Distribute lots of invitation letters. The maximum service can take place in Delhi. Delhi is the capital of the whole of Bharat. The agents of all the newspapers live there. You also have to make this announcement in the newspapers: You have been claiming your inheritance from your lokik fathers for birth after birth. Now claim your inheritance from the parlokik Father. Come and claim from the Father the inheritance of the Paradise you have been remembering. Have it printed in all the newspapers: Bharat is the birthplace of Shiv Baba. There is only the one Father who will uplift everyone. The greatest pilgrimage place is that of the Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier. However, no one knows this. Christ, Abraham, Buddha etc. have all been taking rebirth and are now in their final births. Christians themselves say that Christ exists here in some form. They also believe in the tree. Otherwise, where else do all of these souls come from? There are definitely sections where they come from. History will then definitely repeat. This tree is something very good, but children value it numberwise. Children hold exhibitions to explain to other people. You don’t have to have an art show. In an art gallery they have useless pictures and they call it art. They paint many different pictures of deities with slim waists. There, the deities have natural beauty. At this time even the five elements are tamopradhan. In the golden age the five elements are satopradhan. The beautiful Krishna and the ugly Krishna have been remembered. There, you don’t need to do anything to your body. Here, you have to do so many things for your body in order to look after it. There, even when someone becomes old, he would have all his teeth. If someone’s tooth were to be broken, he would be disfigured. There, they remain absolutely first class, 16 degrees full. There are no handicapped or crippled people there. Here, just look how babies are born handicapped or crippled. You are becoming the masters of such a land of angels. The one Traveller comes and takes you to the land of angels. You travellers become impure while playing your parts here and souls become ugly. The Father is ever beautiful. He never has alloy mixed in Him. I am real gold and this is why people call out to Me. They call out to the One who is ever pure: Baba, come. Come and make us equal to You. You would not become ever pure, but everyone does have to go into the satopradhan stage. However, it is numberwise in that too. There are various actors in a play. Those who play the hero and heroine receive a lot of money. Now, the Government makes raids on everyone’s money. It is said: Some people’s wealth will remain buried in the ground and some people’s wealth will be looted by the Government. Only that which is used in the name of the Lord will be used in a worthwhile way, because the Lord has come to establish heaven. Only the wealth of those who become the Father’s helpers will remain safe. You will have plenty of wealth there. There will be so much gold and so much diamond jewellery. However, you are not concerned about that at all. No one is going to loot you there. You will receive new mines of diamonds and gold. The diamonds will be lying there like stones. You are going to receive all of that. Just as palaces of brick are built, similarly, you will continue to build palaces of gold. Even the wealthy subjects will build golden palaces. Those who are full donors will have them built with real gold. Baba continues to tell you everything. He doesn’t tell you to starve to death. You have to look after your children etc. It is a creator’s duty to look after everyone and not make them unhappy. You mustn’t starve anyone to death. Be merciful. People are so unhappy. You know that when there is to be famine, so many will suffer. They will cry out in distress and then there will be the cries of victory. All souls will receive happiness. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There are two types of happiness: One is to reside in the land of peace and the other is to reside in the land of happiness. There is everything – purity, peace and happiness – in the land of happiness. The Father says: I come every cycle. My part is at the time when people are very unhappy. This is why My name is, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, the Bestower of Peace to All and the Bestower of Happiness to All. You know that, together with Baba, you donate peace to everyone. The more you stay in remembrance, the more donations you will continue to give others. You give them knowledge for happiness. Therefore, you children have to reveal your Mother and Father. The more you reveal them and show the path of happiness and peace to many, the more reward you will receive. Baba tells you so many new things of the new world. He gives you visions of the old world and the new world. He will give you even more visions, but only to those who are real, strong children. The Lord is pleased with an honest heart. You will see a great deal. Just as you were shown them in the beginning, so you will be shown them at the end. So many programmes used to be given to you and you were also given visions. You were decorated so beautifully; you were given crowns etc. You will be shown them once again in different ways. It is said: Happiness to the hunter and death for the prey. At the time of partition, it was death for the prey. You weren’t concerned about anything. It was as though you had died alive. Baba says: Children, make full effort. Make effort: I am a soul. Continue to speak of spiritual things with one another. All worldly things, body-conscious things, have to end. Those who were amazed and then ran away will not see any of these things. You have seen the past and you will also see new things. Make effort. The Father loves the sweetest children a great deal. Lovely children receive a lot of love. Those who do good service receive love and also a status. Don’t forget: The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us souls and making us into heirs of heaven. You have to have divine virtues. Previously, everyone had devilish traits. Baba is now sitting personally in front of you. There is love for the One from whom you receive the inheritance, not for the agent. The agent is just in between. Your bargain is made with that One. Therefore, remember the Father. Continue to renounce body consciousness. Mine is only one Shiv Baba. No other bodily being should be remembered. Baba has entered an old boot. I have taken it on loan. Baba would have spoken these words in the previous cycle. He is also saying them now. These things were explained to you on this day and I am now explaining them to you again. Such a good, broad and unlimited intellect is required. Lakshmi and Narayan became number one. They would definitely have created a good reward. This is the God f atherly Salvation Army to give the salvation of liberation and liberation-in-life to the whole world. Rama is the Bestower of Salvation for All. The whole world has to go into liberation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Together with the Father, donate peace to the whole world. Become a remover of sorrow and a bestower of happiness, the same as the Father.
  2. Have full love for the one Father. Don’t speak of body-conscious things among yourselves. Only speak of spiritual things.
Blessing: May you be an easy yogi (sahaj yogi) and, instead of being one who is separated (viyogi), become a co-operative soul (sahyogi) who makes preparations instead of waiting.
Some children wait. They think: if this one lets go, I will become free; if this one stops this conflict, I will become free. However, it doesn’t work like that. These obstacles or test papers of Maya are definitely going to come in one form or another from time to time. So, do not wait and think “When this person lets me pass”, or, “When this situation passes by”… no. I have to pass through them. Make such preparations. Constantly move along, holding onto the finger of shrimat. Become co-operative and so an easy yogi. It should not be that you are sometimes co-operative and sometimes separated.
Slogan: To increase the zeal and enthusiasm of many souls with your zeal and enthusiasm is true service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 September 2018

To Read Murli 19 September 2018 :- Click Here
20-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान की एक बूंद है अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो, इसी एक बूंद से मुक्ति-जीवनमुक्ति प्राप्त हो सकती है”
प्रश्नः- किस पुरुषार्थ में अपनी और दूसरों की उन्नति समाई हुई है?
उत्तर:- 1- याद में रहने का पुरुषार्थ करो, इसमें ही अपनी और दूसरों की उन्नति समाई हुई है। तुम बच्चे जब याद में बैठते हो तो जैसे दूसरों को शान्ति का दान देते हो। 2- आपस में देह-अभिमान की जिस्मानी बातें छोड़ रूहानी बातें करो तो उन्नति होती रहेगी। तुम्हें बाप का शो करना है। जितना शो करेंगे सबको शान्ति और सुख का मार्ग बतायेंगे, उतना इज़ाफा (इनाम) मिलेगा।
गीत:- तू प्यार का सागर है……

ओम् शान्ति। यह भक्ति मार्ग में गाते आये हैं। महिमा करते आये हैं। महिमा है परमपिता परमात्मा की। जैसे भक्ति मार्ग में अनेक प्रकार के गायन होते हैं, उत्सव मनाते हैं वह भी गायन है। कोई भी मनुष्य साधू-सन्त आदि का गायन नहीं हो सकता। गाते हैं वह ज्ञान का सागर है। एक भी बूंद मिले तो हम यहाँ से चले जायेंगे। कहाँ जायेंगे? मुक्ति वा जीवनमुक्तिधाम। महिमा होती रहती है परन्तु उनकी महिमा को जानते नहीं हैं। तुम जानते हो सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। दो बाप का राज़ भी समझाया गया है – एक है लौकिक बाप, उनकी याद आने से उसको देह-अभिमान कहा जायेगा। आत्मा को देह देने वाला बाप याद आता है। आत्मा अपने रूहानी बाप को भूल जाती है। यही भूल है। यूं तो कोई भूले हुए नहीं हैं परन्तु कह देते हैं आत्मा ही परमात्मा है, यही भूल है। यह भी कहते हैं कि हम जीव आत्मा हैं। मेरी आत्मा को तंग नहीं करो। तंग तो आत्मा होती है ना। आत्मा को गर्भजेल में सजा मिलती है तो उनको शरीर में दु:ख भासता है। साक्षात्कार भी स्थूल रूप का करायेंगे, तब वह फील करते हैं, हमको दु:ख मिल रहा है। बच्चों को समझाया है पहले-पहले प्रैक्टिस करो हम आत्मा हैं। देह-अभिमानी बनने से संबंध याद आता है – यह चाचा है, मामा है…..। शरीर नहीं है तो कोई भी संबंध नहीं है। आत्मा का ही ज्ञान है। कोई को महान् परमात्मा थोड़ेही कहा जाता है। कोई मर जाता है तो उनकी आत्मा को बुलाया जाता है। ऐसे नहीं कहेंगे कि इनके परमात्मा को बुलाया जाता है। कोई भी हालत में उनको परमात्मा नहीं कहा जाता। न परमात्मा जन्म-मरण में आते हैं। परमात्मा जन्म-मरण रहित है। आत्मा तो पुनर्जन्म लेती रहती है। यह भी समझ गये हैं कि पहले-पहले आत्मा है देवी-देवताओं की, 84 जन्म भी भारत में गाये जाते हैं। अब बच्चे जानते हैं ज्ञान सागर सम्मुख बैठे हैं। पतित-पावन को ही ज्ञान सागर कहेंगे। बाप को ही कहा जाता है ज्ञानेश्वर। ईश्वर में ज्ञान है सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का। ईश्वर ही सृष्टि को रचते हैं इसलिए उनको रचना का ज्ञान है। रचता कहते हैं तो जरूर रची हुई सृष्टि है, तब तो कहते हैं ना। रचता को बाप कहा जाता है। बहन-भाई को रचता नहीं कहेंगे। रचता हमेशा बाप को कहा जाता है। बच्चे जानते हैं हमारे सम्मुख बाप बैठे हैं। भल विलायत में कोई बैठे होंगे, कहेंगे बाप से हम दूर हैं परन्तु याद तो करेंगे ना। तुमको भी याद करना है, परन्तु लौकिक संबंध को देख पारलौकिक बाप को भूल जाते हैं इसलिए बाबा कहते हैं उठते-बैठते बाप को याद करने की प्रैक्टिस करो। मैं आत्मा इस शरीर से चलती हूँ। आत्मा का ज्ञान तो तुमको है। यह जानते हो आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल। ऐसे नहीं कहा जाता परमात्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल…..। आत्मा और परमात्मा कहा जाता है।

अभी बाप बच्चों के सम्मुख बैठे हैं। कहते हैं आपकी एक बूँद भी बहुत है। परमपिता परमात्मा हम आत्माओं का बाप है। बस, इसको ज्ञान कहा जाता है। ऐसे और कोई को भी कहने की हिम्मत नहीं आयेगी कि तुम सब आत्माओं का मैं बाप हूँ, जिसको ही ज्ञान सागर पतित-पावन कहते हैं। यह कहने कोई को आयेगा नहीं। बाप ही कहते हैं मैं तुम्हारा बाप हूँ। बरोबर, अब महाभारी लड़ाई भी सामने खड़ी है, यादव, कौरव, पाण्डव भी हैं। यह सारा समझाने पर मदार है। चित्र देखने से कोई समझ जाये सो मुश्किल है, जब तक टीचर न समझाये। स्कूल में भी टीचर समझाते हैं ना – यह इन्डिया है, यह लन्दन है। बिगर समझाने बुद्धि में आ न सके। अगर नक्शे में नाम पढ़े तो भी सिर्फ नाम कह सकेंगे। लेकिन कहाँ है, कौन राज्य करते हैं, कुछ भी समझ नहीं सकेंगे। यहाँ भी हर बात समझने की होती है। आजकल तो पहले भभका चाहिए, शो देखकर ही आयेंगे। अब वहाँ समझाने वाले बड़े अच्छे चाहिए। बच्चे ही समझायेंगे कि यह जगत अम्बा है, सबकी मनोकामनायें सिद्ध करने वाली है। झाड़ के नीचे दिखाते हैं – कामधेनु बैठी है। तो उनसे मिलने लिए भी आयेंगे। जगत पिता है तो जरूर जगत की माँ भी होगी, परन्तु जगत अम्बा इनको कहते हैं क्योंकि कलष माताओं को दिया जाता है। मुख्य जगदम्बा गाई हुई है फिर उनकी सेना भी है।

तुम बच्चे एग्जीवीशन करते हो तो उसमें समझाने के लिए बड़े अच्छे-अच्छे बच्चे चाहिए। बाबा ने समझाया है मुख्य बात है बाप के परिचय की। पहले-पहले समझाओ दो बाप हैं। एक है तुम्हारा लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक बाप। लौकिक बाप से तो जन्म-जन्मान्तर हद का वर्सा लेते आये, अब बेहद का वर्सा लो। बहुत गई थोड़ी रही….. विकर्मों का बोझा सिर पर बहुत है। योग से ही विकर्म विनाश हो सकते हैं। मासी का घर नहीं। अजुन कुछ न कुछ हिसाब-किताब रहा हुआ है तब तो भोगना पड़ता है ना। कितनी मेहनत लगती है। अगर देरी से आयेंगे तो कितना विकर्म विनाश कर सकेंगे। मुश्किलात है ना। यह तो तुम ढिंढोरा पिटवा दो जो कोई फिर उल्हना न देवे। तुम कह सकेंगे हम तो ढिंढोरा पिटवाते, अ़खबार में डलवाते थे। जितना हो सके निमंत्रण तो सभी को मिलना चाहिए। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेने का पुरुषार्थ करो। खूब निमंत्रण पत्र बांटो। सबसे जास्ती सर्विस देहली में हो सकती है। देहली है सारे भारत की गद्दी, वहाँ सभी अखबारों के एजेन्ट्स रहते हैं। अ़खबार द्वारा भी इतला करना है। लौकिक बाप से तो जन्म-जन्मान्तर वर्सा लेते आये, अभी फिर पारलौकिक बाप से वर्सा लो। जिस वैकुण्ठ को याद करते हो उसका वर्सा बाप से आकर लो। सभी अखबारों में डालते जाओ – शिवबाबा का बर्थ प्लेस है भारत। सभी का उद्धार करने वाला एक ही बाप है। तो सबसे बड़ा तीर्थ परमपिता परमात्मा पतित-पावन का हुआ ना, परन्तु यह किसको पता नहीं है। क्राइस्ट, इब्राहिम, बुद्ध आदि सभी पुनर्जन्म लेते-लेते अभी अन्तिम जन्म में हैं। क्रिश्चियन लोग खुद भी कहते हैं क्राइस्ट यहाँ ही किसी जन्म में है। क्रिश्चियन लोग भी झाड़ को मानते हैं। नहीं तो इतनी आत्मायें कहाँ से आती हैं। जरूर सेक्शन हैं जहाँ से आते हैं। हिस्ट्री फिर रिपीट जरूर होगी। यह झाड़ बड़ी अच्छी चीज़ है परन्तु इनकी वैल्यु बच्चों के पास नम्बरवार है।

बच्चे दूसरों को समझाने के लिए प्रदर्शनी आदि करते हैं। इसमें कोई आर्ट का शो नहीं करना है। आर्ट गैलरी में तो व्यर्थ के चित्र रखते हैं। समझते हैं यह आर्ट है। देवताओं की पतली कमर आदि के किस्म-किस्म के चित्र बनाते हैं। वहाँ देवताओं की तो नेचुरल ब्युटी रहती है। इस समय तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। सतयुग में 5 तत्व भी सतोप्रधान होते हैं। कृष्ण गोरा और कृष्ण सांवरा गाया हुआ है। वहाँ शरीर की मरम्मत नहीं होती। यहाँ तो देखो कितनी मरम्मत करनी पड़ती है। वहाँ तो भल बूढ़ा हो जाए तो भी दांत आदि सभी साबुत रहते हैं। दांत टूट जाएं तो डिसफिगर हो जाएं। वहाँ तो एकदम फर्स्ट क्लास 16 कला सम्पूर्ण रहते हैं। लूले-लंगड़े होते नहीं। यहाँ तो देखो कैसे लूले-लंगड़े जन्म लेते हैं। तो तुम ऐसे परिस्तान के मालिक बन रहे हो। एक ही मुसाफिर आकर परिस्तान में ले जाते हैं। तुम मुसाफिर यहाँ पार्ट बजाते-बजाते पतित बन जाते हो, आत्मा काली हो जाती है। बाप तो एवर हुसैन है, उनमें कभी खाद नहीं पड़ती है। मैं तो सच्चा सोना हूँ इसलिए मुझे बुलाते हैं। एवर पावन को ही बुलाते हैं – बाबा आओ, हमको भी आप समान बनाओ। तुम एवर पावन तो नहीं बनेंगे। बाकी सतोप्रधान में तो सबको आना है, परन्तु उनमें भी नम्बरवार हैं। नाटक में एक्टर्स भिन्न-भिन्न होते हैं ना। कोई हीरो-हीरोइन होते हैं तो उनको पैसे भी बहुत मिलते हैं। अभी तो गवर्मेन्ट सबके पैसे पकड़ती रहती है। कहा जाता है – किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए, सफली होगी वह जो खर्चे नाम धनी के……. क्योंकि धनी आया हुआ है स्वर्ग की स्थापना करने। जो बाप के मददगार बनेंगे उन्हों का ही सेफ रहेगा। तुमको तो वहाँ ढेर की ढेर मिलकियत होगी। कितना सोना हीरे जवाहर आदि होंगे! परन्तु तुमको उसकी कोई भी परवाह नहीं रहती है। तुमको कोई लूटेंगे थोड़ेही। हीरे-सोने आदि की खानियां सब तुमको नई-नई मिलेंगी। पत्थरों मुआफिक हीरे पड़े होंगे। सब तुमको मिल जाना है। जैसे ईटों के महल बनते हैं वहाँ सोने के महल बनाते रहेंगे। धनवान प्रजा भी सोने के महल बनायेगी। जो पूरे दानी बनते हैं वह भी सोने के बनाते हैं। बाबा सब बातें बतलाते रहते हैं। ऐसे भी नहीं कहते तुम भूख मरो। बच्चों आदि को भी सम्भालना है। रचता का फ़र्ज है सम्भाल करना, दु:खी नहीं करना है। भूख नहीं मारना है। रहमदिल बनना है। मनुष्य कितने दु:खी हैं, जानते हो फैमन पड़ेगा तो बहुत दु:खी होंगे। त्राहि-त्राहि करेंगे, फिर जयजयकार होगी। सब आत्माओं को सुख मिल जायेगा। बाप है ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। सुख हैं दो – एक शान्तिधाम में रहना और दूसरा सुखधाम में रहना। सुखधाम में पवित्रता, सुख, शान्ति सब है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ। जब मनुष्य बहुत दु:खी हो जाते हैं, मेरा पार्ट ही उस समय का है इसलिए मेरा नाम ही है दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, सर्व का शान्ति दाता, सुखदाता।

तुम जानते हो हम बाबा के साथ सबको शान्ति का दान देते हैं। जितना याद में रहेंगे उतना औरों को दान देते रहेंगे। फिर नॉलेज देते हैं सुख के लिए। तो बच्चों को मात-पिता का शो करना है। जितना शो करेंगे, सुख शान्ति का मार्ग बहुतों को बतायेंगे तो इज़ाफा मिलेगा। बाबा तुमको कितना सब नई दुनिया की नई-नई बातें सुनाते हैं। पुरानी दुनिया और नई दुनिया दोनों का साक्षात्कार कराते हैं। और ही जास्ती तुमको साक्षात्कार करायेंगे, परन्तु उनको जो बाबा के पक्के सच्चे बच्चे होंगे। सच्चे दिल पर साहेब राज़ी होता है। तुम बहुत कुछ देखेंगे जैसे शुरू में भी दिखाया था फिर अन्त में दिखायेंगे। कितने प्रोग्राम आते थे, साक्षात्कार कराते थे। कितनी सजावट, ताज आदि पहनाते थे फिर से भिन्न-भिन्न प्रकार के दिखायेंगे। मिरूआ मौत मलूका शिकार। उसी समय पार्टीशन में भी मिरूआ मौत था ना। तुमको कोई परवाह नहीं थी। तुम तो जैसे जीते जी मर गये। तो बाबा कहते हैं – बच्चे, पूरी मेहनत करो, पुरुषार्थ करो, हम आत्मा हैं। एक-दो से भी रूहानी बातें करते रहो। जिस्मानी देह-अभिमान की बातें खत्म। जो आश्चर्यवत् भागन्ती हो जायेंगे वह यह सब नहीं देखेंगे। पास्ट भी तुमने देखा और जो नया होगा वह भी तुम देखेंगे, मेहनत करो। मीठे-मीठे बच्चों को बाप बहुत प्यार करते हैं। प्यारे बच्चों को बहुत प्यार मिलता है। जो अच्छी सर्विस करेंगे उनको प्यार भी मिलेगा, पद भी मिलेगा। भूलो नहीं, हम आत्माओं को निराकार परमपिता परमात्मा शिक्षा दे रहे हैं, स्वर्ग का वारिस बना रहे हैं। दैवी गुणवान बनना है। आगे तो सबमें आसुरी गुण थे। अब बाबा सम्मुख बैठे हैं, जिससे वर्सा मिलता है, उनसे लॅव रहता है, दलाल से नहीं। दलाल तो बीच में हुआ। सौदा तुमको उनसे मिलता है। तो बाप को याद करो। देह-अभिमान को छोड़ते जाओ। मेरा तो एक बाबा, दूसरा कोई भी देहधारी याद न आये। यह तो बाबा पुरानी बूट में आये हैं। मैंने यह लोन लिया है। कल्प पहले भी यह अक्षर कहे होंगे। अब भी कह रहे हैं। आज के ही दिन तुमको यह समझाया था फिर समझा रहा हूँ। कितनी अच्छी विशाल बुद्धि चाहिए। लक्ष्मी-नारायण नम्बरवन बने हैं, जरूर अच्छी प्रालब्ध बनाई होगी। यह गॉड फादरली सैलवेशन आर्मी है, सारी दुनिया को मुक्ति-जीवनमुक्ति की सैलवेशन देने वाली। सर्व का सद्गति दाता राम। गति में तो जाना ही है सारी दुनिया को। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के साथ सारे विश्व को शान्ति का दान देना है। बाप समान दु:ख हर्ता सुख कर्ता बनना है।

2) एक बाप से पूरा लॅव रखना है। आपस में देह-अभिमान की बातें नहीं करनी है। रूहानी बातें ही करनी है।

वरदान:- इन्तजार को छोड़ इन्तजाम करने वाले वियोगी के बजाए सहयोगी सो सहजयोगी भव
कई बच्चे इन्तजार करते हैं कि यह छोड़ें तो छूटूं, यह टकराव छोड़ें तो छूटूं-लेकिन ऐसा नहीं होता। यह तो माया के विघ्न वा पढ़ाई में पेपर समय प्रति समय भिन्न-भिन्न रूपों से आने ही हैं। तो यह इन्तजार नहीं करो कि फलाना व्यक्ति पास करे, फलानी परिस्थिति पास करे.. नहीं, मुझे पास करना है। ऐसा इन्तजाम करो। सदा श्रीमत की अंगुली के आधार पर चलते, सहयोगी सो सहजयोगी बनो। कभी सहयोगी कभी वियोगी नहीं।
स्लोगन:- अपने उमंग-उत्साह द्वारा अनेक आत्माओं का उत्साह बढ़ाना – यह सच्ची सेवा है।
Font Resize