daily murli 20 november

TODAY MURLI 20 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 November 2020

20/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now on the shore and have to go across to the other side. Prepare to return home.
Question: By remembering which aspect will your stage become unshakeable and immovable?
Answer: Past is past. Do not worry about the past but continue to move forward. Constantly continue to look at the One and your stage will become unshakeable and immovable. You have now left the limits of the iron age, so why should you look back? Your intellects should not be pulled by that at all; this is a very subtle study.

Om shanti. Days continue to change and time continues to pass. Just think about it: Time has passed from the golden age until now, the end of the iron age and you are on the shore. The cycle of the golden, silver, copper and iron ages is like a model. This world is very large. You children have now understood this model. Previously, you didn’t know that it is now the end of the iron age. You children now understand this. Therefore, your intellects should go around the whole cycle, from the golden age up to now, and come and stand on the shore of the end of the iron age. You should understand that time continues to tick away and that the drama cycle continues to turn. How much of the drama is there left to come? Just a little now remains. Previously you didn’t know this. The Father has told you that only a little corner now remains. There is very little time left before you leave this world and go to the other world. You have now received this knowledge. We have been around the cycle from the golden age and have now come to the end of the iron age. We now have to return home. There are entrance and exit gates; it is the same here. You children should explain that you now just have a small stretch of the shore left. This is the most elevated confluence age. We are now standing on the shore. There is very little time left. Our attachments to this old world now have to be removed. We now have to go to the new world. You have been given a very simple explanation. Keep this in your intellects. You should continue to turn the cycle around in your intellects. You are no longer in the iron age; you have left that side. Therefore, since you have left the old world, why should you remember those on the other side? We are now at the most elevated confluence age, and so why should we look back? Why should our intellects be connected in yoga with the vicious world? These are very subtle matters. Baba knows that some children don’t even understand a pennyworth! As soon as they hear something, they forget it! You must not look back! Use your intellect for everything. We are going across to the other side, so why should we look back? Past is past! The Father says: I explain such refined matters to you. In spite of that, why do you children constantly keep looking back? Your head is still turned towards the iron age. The Father says: Turn your heads this way. That old world is of no use to you. Baba inspires you to have disinterest in the old world. The new world is in front of you and you must have disinterest in the old world. Just think: Is our stage like that? The Father says: Past is past! Don’t remember the past! Don’t have any desires of the old world. You must now have just the one elevated desire of going to the land of happiness. Just keep the land of happiness in your intellects. Why should you turn back? However, many of you do turn back. You are now at the most elevated confluence age. You have moved away from the old world. This is something that has to be understood. You mustn’t come to a standstill anywhere. Don’t look around anywhere! Don’t remember the past! The Father says: Continue to move forward and don’t look back. Continue to look in one direction, because only then will your stage become unshakeable, stable and immovable. By continuing to look back to that side, you’ll continue to remember your friends and relatives, etc. of the old world. It is numberwise. Today, someone is moving along very well and tomorrow, he falls and becomes disheartened. There are such bad omens that they don’t even feel like listening to the murli. Just think about it! It does happen like this, does it not? The Father says: You are now standing at the confluence. Therefore, just keep looking ahead. Only when you remember that the new world is in front of you will you have happiness. You are now within calling distance. It is said: We are now able to see the trees of our land. If you call out, they will very quickly be able to hear you. To be within calling distance means for them to be just in front of you. As soon as you remember the deities, they will come. Previously, they didn’t come. Did those from your in-laws’ family come to the subtle region before? Now, those from your parents’ home and those from your in-laws’ home come together. Even then, while moving along, some children forget. Their intellects yoga moves backwards. The Father says: This is the last birth of all of you. You mustn’t move back. You have to go to the other side. You have to go across from this side to the other side. Death too is coming close. You just have to take one step! When the boat reaches the shore, you have to take one step on to that side. You children have to stand on the shore. It is in the intellects of you souls that you are going to your sweet home. Even if you remember this in happiness, it will make you unshakeable and immovable. Continue to churn the ocean of knowledge. This is a question of your intellects. We souls are leaving. We are now very close, within calling distance. Very little time remains. This is called the pilgrimage of remembrance. You forget this; you even forget to write your chart. Put your hand on your heart each one of you and ask yourself: Is my stage like the one that Baba describes as being within calling distance? There has to be only the remembrance of Baba in your intellects. Baba teaches you the pilgrimage of remembrance in many different ways. Remain intoxicated on the pilgrimage of remembrance; that’s all. We now have to return. All the relationships here are false. The relationships in the golden age are real. Look at yourself to see where you are standing. Keep this cycle from the golden age onwards in your intellects. You are spinners of the discus of self-realization. From the golden age you have been around the cycle and are now standing on the shore. It is within calling distance, is it not? Some children waste a lot of time. They stay in remembrance for hardly five to ten minutes. You have to become those who spin the discus of self-realisation throughout the whole day. However, it isn’t like that. Baba explains to you in many different ways. This refers to the soul. Your intellects should continually be rotating the cycle. Why does this remembrance not remain in your intellects? We are now standing on the shore. Why don’t you keep the shore in your intellects? Since you know that you are becoming the most elevated beings, go and stand on the shore! Continue to move like a louse (very slowly around the cycle). Why don’t you practise this? Why don’t you keep the cycle in your intellects? This is the discus of self-realisation. Baba continues to explain the whole cycle from the beginning. Let your intellects go around the whole cycle and come and stand on the shore. There shouldn’t be any external complications or influence of the external atmosphere. Day by day, you children have to continue to go into silence. You mustn’t waste your time! Forget the old world and connect your intellects in yoga to the new relations. If you don’t have yoga, how would your sins be cut away? You know that this world is going to end; its model is so tiny! This world is of 5000 years duration. There is a model of heaven in Ajmer, but do those people remember heaven? What do they know of heaven? They believe that heaven will come after 40,000 years. The Father sits here and explains to you children: While doing everything in this world, keep it in your intellects that this world is going to end. We now have to return home; we are now standing at the end. We take every step like a louse (moving very slowly). The destination is very high. The Father knows the destination. Together with the Father, there is also Dada. Since that One explains, can this one not explain? This one also listens to Him. Would this one not churn the ocean of knowledge? The Father continues to give you points to churn. It isn’t that (Brahma) Baba is very far behind. He is just behind Me, like My tail, and so how could he be far behind? You have to imbibe all of these deep things. Renounce being careless! Children come here to Baba after two years. Do they remember they are so close that they are standing on the shore? We now have to return home. What else do you need if you have such a stage? Baba has explained that the term “double crown” is used, but there is no crown of light there. That is just a symbol of purity. A halo of light is definitely shown in the pictures of the founders of religions, because they are viceless and satopradhan. They then become rajo and tamo. You children have now received knowledge and so you should be intoxicated with this. Although you are in this world, your intellects should be connected in yoga there. You have to fulfil your responsibility here. Those who belong to this clan will emerge. The sapling has to be planted. Those who belong to the original, eternal, deity religion will definitely come sooner or later. Those who come later will go ahead of those who came earlier. This will continue to happen until the end. New ones will quickly go ahead of the older ones. The examination is based on the pilgrimage of remembrance. Although someone may have come late, if he keeps himself busy on the pilgrimage of remembrance and renounces everything else – he has to eat, but if he stays in remembrance very well, then there is no other nourishment like that of happiness. The only concern you should have is to return home. You receive your fortune of the kingdom for 21 births. The mercury of happiness rises for those who win a lottery. You have to make a lot of effort. This is known as the last, the invaluable birth. A great deal of pleasure is experienced staying on the pilgrimage of remembrance. Hanuman too became stable by making effort. The haystack was set ablaze. The kingdom of Ravan was burnt. They simply made up a story. The Father sits here and explains real things to you. The kingdom of Ravan will end. This is known as a stable intellect. We are now within calling distance and are going home. Make effort to stay in remembrance and your mercury of happiness will rise. Your lifespan will increase with the power of yoga. The divine virtues that you imbibe now will remain with you for half the cycle. You make so much effort in this one birth that you become like Lakshmi and Narayan. So, you should make that much effort. Don’t make mistakes or waste time in this respect. Those who do something receive the reward of it. The Father continues to give you teachings. You understand that you become the masters of the world every cycle. You perform wonders in such a short time! You change the whole world. This is not a big thing for the Father. He does it every cycle. The Father says: While walking and moving around, while eating and drinking, connect your intellects in yoga with the Father. The Father sits and explains these incognito aspects to you children. Continue to make your stage very good. Otherwise, you will not be able to claim a high status. You children continue to make effort, numberwise. You understand that you are now standing on the shore. Why should you look back? You must continue to step forward. A great deal of introspection is required for this. This is why there is the example of the tortoise. All of these examples etc. are for you. Sannyasis are hatha yogis; they cannot teach you Raja Yoga. When those people hear you, they think that you are insulting them. This is why you have to write these things very tactfully. No one but the Father can teach you Raja Yoga. You have to speak indirectly, so that they don’t get upset. You have to interact with diplomacy, so that the snake is killed but the stick doesn’t break. Have love for your family, but connect your intellects in yoga with the one Father. You know that you are now following the directions of One. These directions are for becoming deities. They are what are known as ‘undivided directions’. You children have to become deities. How many times have you become this? Countless times! You are now at the confluence age. This is your last birth. You now have to return home. Why should you look back? Even if you do look back, you must remain very stable. Don’t forget your destination! You are the brave warriors who conquer Maya. You now understand that this cycle of victory and defeat continues to turn. This knowledge of Baba’s is so wonderful! Did you know this before? Each of you has to consider yourself to be a point. A whole part is recorded in such a tiny point, and this cycle continues to turn. It is so very wonderful!You just have to say that it is a wonder and leave it at that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t turn your head and look behind you. Don’t come to a standstill for any reason. Keep looking at the one Father and make your stage stable.
  2. Keep it in your intellect that you are now standing on the shore. You have to return home. Therefore, stop being careless. Make incognito effort to create such a stage.
Blessing: May you be a true server who accomplishes the task of world transformation by doing service at a fast speed.
In order to serve at a fast speed, you need to have a balance of both “rup” and “basant” collectively. With the form of “basant” you are able to carry out the task of giving the message to many souls at one time. In the same way, as “rup”, that is ,with the power of remembrance and the power of elevated thoughts, you have to do service at a fast speed. Create an invention for this. Along with this, collectively, sacrifice the sesame seeds and barley grain of old sanskars, old nature and old activity with determination and the task of world transformation will then be accomplished and the yagya completed.
Slogan: With the balance of being a master and a child, put your plans into a practical form.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

20-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी बिल्कुल शडपंथ (किनारे) पर खड़े हो, तुम्हें अब इस पार से उस पार जाना है, घर जाने की तैयारी करनी है”
प्रश्नः- कौन-सी एक बात याद रखो तो अवस्था अचल-अडोल बन जायेगी?
उत्तर:- पास्ट इज़ पास्ट। बीती का चिंतन नहीं करना है, आगे बढ़ते जाना है। सदा एक की तरफ देखते रहो तो अवस्था अचल-अडोल हो जायेगी। तुमने अब कलियुग की हद छोड़ दी, फिर पिछाड़ी की ओर क्यों देखते हो? उसमें बुद्धि ज़रा भी न जाए – यही है सूक्ष्म पढ़ाई।

ओम् शान्ति। दिन बदलते जाते हैं, टाइम पास होता जाता है। विचार करो, सतयुग से लेकर टाइम पास होते-होते अभी आकर कलियुग के भी किनारे पर खड़े हैं। यह सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग का चक्र भी जैसेकि मॉडल है। सृष्टि तो बड़ी लम्बी-चौड़ी है। उसके मॉडल रूप को बच्चों ने जान लिया है। आगे यह पता नहीं था कि अब कलियुग पूरा होता है। अब मालूम पड़ा है – तो बच्चों को भी बुद्धि से सतयुग से लेकर चक्र लगाए कलियुग के अन्त में किनारे पर आकर ठहरना चाहिए। समझना चाहिए टिक-टिक होती रहती है, ड्रामा फिरता रहता है। बाकी क्या हिसाब रहा होगा? ज़रा-सा रहा होगा। आगे पता नहीं था। अभी बाप ने समझाया है – बाकी कोना आकर रहा है। इस दुनिया से उस दुनिया में जाने का अभी बाकी थोड़ा समय है। यह ज्ञान भी अभी मिला है। हम सतयुग से लेकर चक्र लगाते-लगाते अब कलियुग अन्त में आकर पहुँचे हैं। अब फिर वापिस जाना है। आने का और निकलने का गेट होता है ना। यह भी ऐसे है। बच्चों को समझाना चाहिए – बाकी थोड़ा किनारा है। यह पुरूषोत्तम संगमयुग है ना। अभी हम किनारे पर हैं। बहुत थोड़ा समय है। अब इस पुरानी दुनिया से ममत्व निकालना है। अब तो नई दुनिया में जाना है। समझानी तो बड़ी सहज मिलती है। यह बुद्धि में रखना चाहिए। चक्र बुद्धि में फिरना चाहिए। अभी तुम कलियुग में नहीं हो। तुमने इस हद को छोड़ दिया है फिर उस तरफ वालों को याद क्यों करना चाहिए? जबकि छोड़ दिया है, पुरानी दुनिया को। हम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं फिर पिछाड़ी में देखें भी क्यों? बुद्धियोग विकारी दुनिया से क्यों लगायें? यह बड़ी सूक्ष्म बातें हैं। बाबा जानते हैं कोई-कोई तो रूपये से एक आना भी समझते नहीं हैं। सुना और भूल जाते हैं। तुमको पिछाड़ी तरफ नहीं देखना है। बुद्धि से काम लेना है ना। हम पार निकल गये – फिर पिछाड़ी में देखें ही क्यों? पास्ट इज़ पास्ट। बाप कहते हैं कितनी महीन बातें समझाते हैं। फिर भी बच्चों का कांध पिछाड़ी में क्यों लटका रहता है। कलियुग तरफ लटका हुआ है। बाप कहते हैं कांध इस तरफ कर दो। वह पुरानी दुनिया तुम्हारे काम की चीज़ नहीं है। बाबा पुरानी दुनिया से वैराग्य दिलाते हैं, नई दुनिया सामने खड़ी है, पुरानी दुनिया से वैराग्य। विचार करो – ऐसी हमारी अवस्था है? बाप कहते हैं पास्ट इज़ पास्ट। बीती बात को चितवो नहीं। पुरानी दुनिया में कोई आश नहीं रखो। अब तो एक ही ऊंच आश रखनी है – हम चलें सुखधाम। बुद्धि में सुखधाम ही याद रहना चाहिए। पिछाड़ी में क्यों फिरना चाहिए। परन्तु बहुतों की पीठ मुड़ जाती है। तुम अभी हो पुरूषोत्तम संगमयुग पर। पुरानी दुनिया से किनारा कर लिया है। यह समझ की बात है ना। कहाँ ठहरना नहीं है। कहाँ देखना नहीं है। बीती को याद नहीं करना है। बाप कहते हैं आगे बढ़ते जाओ, पिछाड़ी को नहीं देखो। एक तरफ ही देखते रहो तब ही अचल, स्थिर, अडोल अवस्था रह सकती है। उस तरफ देखते रहेंगे तो पुरानी दुनिया के मित्र-सम्बन्धी आदि याद पड़ते रहेंगे। नम्बरवार तो हैं ना। आज देखो तो बहुत अच्छा चल रहा है, कल गिरा तो दिल एकदम हट जाती है। ऐसी ग्रहचारी बैठ जाती है जो मुरली सुनने पर भी दिल नहीं होती। विचार करो – ऐसे होता है ना?

बाप कहते हैं तुम अभी संगम पर खड़े हो तो रुख आगे रखना चाहिए। आगे है नई दुनिया, तब ही खुशी होगी। अब बाकी शडपंथ (बहुत समीप, किनारे) पर हैं। कहते हैं ना – अभी तो अपने देश के झाड़ देखने में आते हैं। आवाज़ करो तो झट वह सुनेंगे। शडपंथ अर्थात् बिल्कुल सामने हैं। तुम याद करते हो और देवतायें आ जाते हैं। आगे थोड़ेही आते थे। सूक्ष्मवतन में ससुरघर वाले आते थे क्या? अब तो पियरघर और ससुरघर वाले जाकर मिलते हैं। फिर भी बच्चे चलते-चलते भूल जाते हैं। बुद्धियोग पिछाड़ी में हट जाता है। बाप कहते हैं तुम सबका यह अन्तिम जन्म है। तुम्हें पीछे नहीं हटना है। अब पार होना है। इस तरफ से उस तरफ जाना है। मौत भी नज़दीक होता जाता है। बाकी सिर्फ कदम भरना है, नांव किनारे आती है तो उस तरफ कदम उठाना पड़ता है ना। तुम बच्चों को खड़ा होना है किनारे पर। तुम्हारी बुद्धि में है आत्मायें जाती हैं अपने स्वीट होम। यह याद रहने से भी खुशी तुमको अचल-अडोल बना देगी। यही विचार सागर मंथन करते रहना है। यह है बुद्धि की बात। हम आत्मा जा रही हैं। अब बाकी नज़दीक शडपंथ पर हैं। बाकी थोड़ा समय है। इसको ही याद की यात्रा कहा जाता है। यह भी भूल जाते हैं। चार्ट लिखना भी भूल जाते हैं। अपने दिल पर हाथ रखकर देखो – बाबा जो कहते हैं कि अपने को ऐसे समझो – हम नज़दीक शडपंथ पर खड़े हैं, ऐसी अवस्था हमारी है? बुद्धि में एक बाबा ही याद हो। बाबा याद की यात्रा भिन्न-भिन्न प्रकार से सिखलाते रहते हैं। इस याद की यात्रा में ही मस्त रहना है। बस अब हमको जाना है। यहाँ हैं सब झूठे संबंध। सच्चा सतयुग का सम्बन्ध है। अपने को देखो हम कहाँ खड़े हैं? सतयुग से लेकर बुद्धि में यह चक्र याद करो। तुम स्वदर्शन चक्रधारी हो ना। सतयुग से लेकर चक्र लगाए आकर किनारे पर खड़े हुए हो। शडपंथ हुआ ना। कई तो अपना टाइम बहुत व्यर्थ गँवाते रहते हैं। 5-10 मिनट भी मुश्किल याद में रहते होंगे। स्वदर्शन चक्रधारी तो सारा दिन बनना चाहिए। ऐसे तो है नहीं। बाबा भिन्न-भिन्न तरीके से समझाते हैं। आत्मा की ही बात है। तुम्हारी बुद्धि में चक्र फिरता रहता है। बुद्धि में यह याद क्यों नहीं रहनी चाहिए। अभी हम किनारे पर खड़े हैं। यह किनारा बुद्धि में क्यों नहीं याद रहता है, जबकि जानते हो हम पुरूषोत्तम बन रहे हैं तो जाकर किनारे पर खड़े रहो। जूँ मुआफिक चलते ही रहो। क्यों नहीं यह प्रैक्टिस करते हो? क्यों नहीं चक्र बुद्धि में आता है? यह स्वदर्शन चक्र है ना। बाबा शुरू से लेकर सारा चक्र समझाते रहते हैं। तुम्हारी बुद्धि सारा चक्र लगाए, आकर किनारे पर खड़ी रहनी चाहिए, और कोई भी बाहर का वातावरण झंझट न रहे। दिन-प्रतिदिन तुम बच्चों को साइलेन्स में ही जाना है। टाइम वेस्ट नहीं गँवाना है। पुरानी दुनिया को छोड़ नये सम्बन्ध से अपना बुद्धि का योग लगाओ। योग नहीं लगायेंगे तो पाप कैसे कटेंगे? तुम जानते हो यह दुनिया ही खत्म होनी है, इनका मॉडल कितना छोटा है। 5 हज़ार वर्ष की दुनिया है। अजमेर में स्वर्ग का मॉडल है परन्तु किसको स्वर्ग याद आयेगा क्या? वह क्या जाने स्वर्ग से। समझते हैं स्वर्ग तो 40 हज़ार वर्ष के बाद आयेगा। बाप तुम बच्चों को बैठ समझाते हैं इस दुनिया में कामकाज करते बुद्धि में यह याद रखो कि यह दुनिया तो खत्म होने वाली है। अब जाना है, हम पिछाड़ी में खड़े हैं। कदम-कदम जूँ मिसल चलता है। मंजिल कितनी बड़ी है। बाप तो मंजिल को जानते हैं ना। बाप के साथ दादा भी इकट्ठा है। वह समझाते हैं तो क्या यह नहीं समझा सकते। यह भी सुनते तो हैं ना। क्या यह ऐसे-ऐसे विचार सागर मंथन नहीं करता होगा? बाप तुमको विचार सागर मंथन करने की प्वाइंट्स सुनाते रहते हैं। ऐसे नहीं कि बाबा बहुत पिछाड़ी में है। अरे, यह तो दुम लटका हुआ है फिर पिछाड़ी में कैसे होगा। यह सब गुह्य-गुह्य बातें धारण करनी है। ग़फलत छोड़ देनी है। बाबा के पास 2-2 वर्ष के बाद आते हैं। क्या यह याद रहता होगा कि हम नज़दीक किनारे पर खड़े हैं? अभी जाना है। ऐसी अवस्था हो जाए तो बाकी क्या चाहिए? बाबा ने यह भी समझाया है – डबल सिरताज…… यह सिर्फ नाम है, बाकी लाइट का ताज कोई वहाँ रहता नहीं है। यह तो पवित्रता की निशानी है। जो भी धर्म स्थापक हैं, उनके चित्रों में लाइट जरूर दिखाते हैं क्योंकि वह वाइसलेस सतोप्रधान हैं फिर रजो तमो में आते हैं। तुम बच्चों को नॉलेज मिलती है, उसमें मस्त रहना चाहिए। भल तुम हो इस दुनिया में परन्तु बुद्धि का योग वहाँ लगा रहे। इनसे भी तोड़ तो निभाना है, जो इस कुल के होंगे वह निकल आयेंगे। सैपलिंग लगना है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले जो होंगे वह जरूर आगे-पीछे आयेंगे। पिछाड़ी में आने वाले भी आगे वालों से तीखे जायेंगे। यह पिछाड़ी तक होता रहेगा। वह पुरानों से तीखे कदम बढ़ायेंगे। सारा इम्तहान है याद की यात्रा का। भल देरी से आये हैं, याद की यात्रा में लग जाएं और सब धंधाधोरी छोड़ इस यात्रा में बैठ जायें, भोजन तो खाना ही है। अच्छी रीति याद में रहें तो इस खुशी जैसी खुराक नहीं। यही तात लगी रहेगी – अभी हम जाते हैं। 21 जन्मों का राज्य-भाग्य मिलता है। लॉटरी मिलने वाले को खुशी का पारा चढ़ जाता है ना। तुमको बहुत मेहनत करनी है। इसको ही अन्तिम अमूल्य जीवन कहा जाता है। याद की यात्रा में बहुत मज़ा है। हनूमान भी पुरूषार्थ करते-करते स्थेरियम बना ना। भंभोर को आग लगी, रावण का राज्य जल गया। यह एक कहानी बना दी है। बाप यथार्थ बात बैठ समझाते हैं। रावण राज्य खलास हो जायेगा। स्थेरियम बुद्धि इसको कहा जाता है। बस अब शडपंथ है, हम जा रहे हैं। इस याद में रहने का पुरूषार्थ करो तब खुशी का पारा चढ़ेगा, आयु भी योगबल से बढ़ती है। तुम अभी दैवीगुण धारण करते हो फिर वह आधाकल्प चलती है। इस एक जन्म में तुम इतना पुरूषार्थ करते हो, जो तुम जाकर यह लक्ष्मी-नारायण बनते हो। तो कितना पुरुषार्थ करना चाहिए। इसमें ग़फलत वा टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए, जो करेगा सो पायेगा। बाप शिक्षा देते रहते हैं। तुम समझते हो – कल्प-कल्प हम विश्व के मालिक बनते हैं, इतने थोड़े टाइम में कमाल कर देते हैं। सारी दुनिया को चेंज कर देते हैं। बाप के लिए कोई बड़ी बात नहीं। कल्प-कल्प करते हैं। बाप समझाते हैं – चलते-फिरते, खाते-पीते अपना बुद्धियोग बाप से लगाओ। यह गुप्त बात बाप ही बच्चों को बैठ समझाते हैं। अपनी अवस्था को अच्छी रीति जमाते रहो। नहीं तो ऊंच पद नहीं पायेंगे। तुम बच्चे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार मेहनत करते हो। समझते हो अभी तो हम किनारे पर खड़े हैं। फिर पिछाड़ी में हम क्यों देखें? आगे कदम बढ़ते रहते हैं। इसमें अन्तर्मुखता बहुत चाहिए, इसलिए कछुए का भी मिसाल है। यह मिसाल आदि सब तुम्हारे लिए हैं। संन्यासी तो हैं ही हठयोगी, वह तो राजयोग सिखला न सकें। वो लोग सुनते हैं तो समझते हैं यह लोग हमारी इनसल्ट करते हैं इसलिए यह भी युक्ति से लिखना है। बाप बिगर राजयोग कोई सिखला न सके। इनडायरेक्ट बोला जाता है – तो ख्याल न हो। युक्ति से चलना होता है ना, जो सर्प भी मरे लाठी भी न टूटे। कुटुम्ब परिवार आदि सबसे प्रीत रखो परन्तु बुद्धि का योग बाप से लगाना है। तुम जानते हो हम अभी एक की मत पर हैं। यह है देवता बनने की मत, इसको ही अद्वेत मत कहा जाता है। बच्चों को देवता बनना है। कितना बार तुम बने हो? अनेक बार। अभी तुम संगमयुग पर खड़े हो। यह अन्तिम जन्म है। अब तो जाना है। पिछाड़ी में क्या देखना है। देखते हुए फिर भी अपनी अडोलता में तुम खड़े रहो। मंजिल को भूलना नहीं है। तुम ही महावीर हो जो माया पर जीत पाते हो। अभी तुम समझते हो – हार और जीत का यह चक्र फिरता रहता है। कितना वन्डरफुल ज्ञान है बाबा का। यह पता था क्या कि अपने को बिन्दी समझना है, इतनी छोटी सी बिन्दी में सारा पार्ट नूंधा हुआ है जो चक्र फिरता रहता है। बहुत वन्डरफुल है। वन्डर कह छोड़ना ही पड़ता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पीछे मुड़कर नहीं देखना है। किसी भी बात में ठहर नहीं जाना है। एक बाप की तरफ देखते हुए अपनी अवस्था एकरस रखनी है।

2) बुद्धि में याद रखना है कि अभी हम किनारे पर खड़े हैं। घर जाना है, ग़फलत छोड़ देनी है। अपनी अवस्था जमाने की गुप्त मेहनत करनी है।

वरदान:- बिहंग मार्ग की सेवा द्वारा विश्व परिवर्तन के कार्य को सम्पन्न करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
बिहंग मार्ग की सेवा करने के लिए संगठित रूप में “रूप और बसन्त” इन दो बातों का बैलेन्स चाहिए। जैसे बसन्त रूप से एक समय पर अनेक आत्माओं को सन्देश देने का कार्य करते हो ऐसे ही रूप अर्थात् याद बल द्वारा, श्रेष्ठ संकल्प के बल द्वारा बिहंग मार्ग की सर्विस करो। इसकी भी इन्वेन्शन निकालो। साथ-साथ संगठित रूप में दृढ़ संकल्प से पुराने संस्कार, स्वभाव व पुरानी चलन के तिल व जौं यज्ञ में स्वाहा करो तब विश्व परिवर्तन का कार्य सम्पन्न होगा अथवा यज्ञ की समाप्ति होगी।
स्लोगन:- बालक और मालिक पन के बैलेन्स से प्लैन को प्रैक्टिकल में लाओ।

TODAY MURLI 20 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 November 2018 :- Click Here

20/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make yourselves ever free from disease with the medicine of remembrance. Instil the habit of remembrance and of spinning the discus of self-realization and you will become conquerors of sinful actions.
Question: What is the sign of the children who are constantly concerned about their progress?
Answer: Their every act will always be on the basis of shrimat. The Father’s shrimat is: Children, don’t come into body consciousness. Keep a chart of your pilgrimage of remembrance. Keep a record of your account of profit and loss. Check for how long you stayed in remembrance of Baba and for how long you explained to others.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop from You. 

Om shanti. When you sit here, sit in remembrance of the Father. Because you are body conscious, Maya prevents many of you from staying in remembrance. Some remember their friends and relatives whereas others remember food and drink etc. When you come here, you should invoke the Father, just as they invoke Lakshmi when they worship her. However, she doesn’t really come. Whether you say “Remember the Father” or “Invoke Him”, it is the same thing. It is by having remembrance that your sins will be absolved. You are not able to imbibe this knowledge because you have committed many sins. This is also why you are not able to remember the Father. The more you remember the Father, the more you will become conquerors of sinful actions and the more healthyyou will become. It is very easy, yet Maya, the sins of the past, hinders you. The Father says: For half a cycle you have been remembering Me inaccurately. You are invoking Him in a practical way because you know that He is going to come and speak the murli. However, this habit of remembrance must be instilled. In order to make you free from disease, the Surgeon gives you medicine: Remember Me! Then, you will come to meet Me. You will attain your inheritance by remembering Me. Remember the Father and the sweet home Keep in your intellects the place you are to return to. Only the Father comes here and gives you the true message. No one else can give you God’s message. Others come down here onto the stage to play their parts. They forget who God is; they don’t know God. In fact, they cannot be called messengers. It was human beings who gave them that name. They come down here to play their parts, so how would they remember Him? While playing their parts, they have to become impure. Then, at the end, they have to become pure. It is the Father who comes and makes them pure. You become pure by remembering the Father. The Father says: There is only one method for purification: forget all your bodily relations including your own body. You know: I, the soul, have been given the order to have remembrance. By following this order, you will be called obedient. The more effort you make in this, the more obedient you become. If you have less remembrance, it means that you are less obedient. It is the obedient ones who claim a high status. The Father’s first order is: Remember Me, your Father, and, secondly, imbibe this knowledge. If you do not stay in remembrance, you will have to endure a great deal of punishment. You will receive a great deal of wealth if you continue to spin the discus of self-realisation. God speaks: Remember Me and spin the discus of self-realisation, that is, understand the beginning, the middle and the end of the drama. Recognise Me and understand from Me the beginning, the middle and the end of the cycle. These are the two main aspects. You have to pay attention to these. If you pay full attention to shrimat, you will claim a high status. Become ones with merciful hearts and show the path to everyone; bring benefit to them. Create a method to take all your friends and relatives on this true pilgrimage. Those are physical pilgrimages whereas this is the spiritual pilgrimage. No one else has this spiritual knowledge. All of their knowledge is just the philosophy of the scriptures. This is spiritual knowledge. The s upreme Spirit gives this knowledge in order to explain to the spirits and He then takes them back home. When some children come and sit here, it is just for the sake of it; they have no concern for their own progress. They have a great deal of body consciousness. If they were to become soul conscious, they would become merciful and follow shrimat. They are not obedient. The Father says: Keep a chart of how long you stayed in remembrance and at what times you stayed in remembrance. Previously, you used to keep a chart. Achcha, if you don’t send your chart to Baba, at least keep it with you. Look at your face and see if you have become worthy of claiming Lakshmi. Business people keep their accounts. Some people keep an account of their whole day’s activity. It is as though they have the hobby of writing it. It is very good to keep an account of how long you stayed in remembrance of Baba and for how long you explained to others. If you keep such a chart, you can make a lot of progress. The Father gives you advice about what you should do. You children have to make your own progress. Those who are to become the beads of the rosary have to make a great deal of effort. Baba has said that the rosary of Brahmins cannot be created now; it will only be created at the end when the rosary of Rudra is created. The beads of the rosary of Brahmins keep changing. Those who are in the third or fourth number today become the last ones tomorrow. There is such a difference! Some fall and become degraded. They don’t just fall out of the rosary; they go and become cremators for the subjects. If you want to be threaded in the rosary, you have to make a great deal of effort. Baba gives very good advice on how to make self-progress. Baba says this to everyone. Even someone who is dumb can remind others of Baba with a signal. He can go even higher than those who are able to speak. Someone who is blind or crippled can claim a status higher than those who are healthy. A signal is given in a second. “Liberation-in-life in a second  has been remembered. As soon as you belong to the Father, you certainly do receive the inheritance, but the status you receive is surely numberwise. As soon as a child is born, he receives the right to his inheritance. Here, all of you souls are males and so you have to claim from the Father the right to the inheritance. Everything depends on effort, but it would then also be said that you also made the same effort in the previous cycle. This is boxing with Maya. The Pandavas fight with Maya, Ravan. Some make effort and become the masters of the world with a double crown, whereas others become maids and servants of the subjects. All are studying here. A kingdom is being established. Baba’s attention is definitely drawn to the leading beads. It is understood from their efforts how much progress the eight beads are making. It is not that He knows the secrets of everyone’s heart or that He reads what’s happening inside everyone; no. To be “Janijananhar” means to know everything. It is not that He knows everything in each one’s heart. “Janijananhar” means to be knowledge-full. He knows the beginning, the middle and the end of the world. It is not that He would sit and read what is in the heart of each one. Do you think I am a thought reader? I am Janijananhar, that is, knowledge-full. The past, present and future are called the beginning, the middle and the end of the world. I know the repetition of this cycle, how it repeats. I come to teach you children this knowledge. Each one of you can understand how much service you do and to what extent you are studying. It is not that Baba sits and knows what is inside each one of you. Baba would not sit and do that business. He is the Knower of all Secrets. He is the knowledge-full Seed of the human world tree. He says that He knows the beginning, the middle and the end of the human world and its main actors. The rest of creation is limitless. The word ‘Janijananhar’ (One who knows all secrets) is very old. I teach you whatever knowledge I have. However I would not sit all day and watch what you do. I come to teach you easy knowledge and yoga. The Father says: I have many children. I reveal Myself to the children. All My business is with the children. I am the Father of those who become My children. Only then can I understand whether that child is a real one or a stepchild. Each one is studying. You should act on the basis of shrimat and become benefactors. You children understand the day of the Lord of the Tree as the day of the Lord of Jupiter. As well as being Shiva, He is the Lord of the Tree, the two are one and the same. Children start school on a Thursday (day of the Satguru), and so that is like adopting a guru (their teacher). For example, Monday is the day of Somnath (Lord of Nectar) and so Shiv Baba gives you nectar to drink. In fact, His name is Shiva but, because He teaches you, He is called Somnath. Somnath is also called Rudra. He creates the sacrificial fire of knowledge of Rudra and so He becomes the One who gives knowledge. He has been given many names and an explanation is given of each one. Only this one yagya has continued from the beginning. No one knows that everything of the whole old world is going to be sacrificed into this sacrificial fire. All human beings and everything else, including the elements, will be transformed. You children are going to see this. You have to become mahavirs (brave warriors) in order to see it. No matter what happens, you should not forget Baba. Human beings will continue to cry out in distress. First of all, explain to everyone: Just think, in the golden age, there was only one Bharat. There were very few human beings and there was only one religion. Now, at the end of the iron age, there are so many religions. For how long will this continue? The golden age will definitely come after the iron age. Now, who would establish heaven? Only the one Father is the Creator. There is establishment of the golden age and destruction of the iron age. That destruction is standing in front of you. You have now received the knowledge of the past, present and future from the Father. You have to spin the discus of self-realisation. Remember the Father and the Father’s creation. This is such an easy thing!

Song: You are the Ocean of Love.

On the picture it is written “Ocean of Knowledge, Ocean of Bliss”, but you must definitely add the words, “Ocean of Love”. The Father’s praise is totally unique. By saying that He is omnipresent, they finish His praise. Therefore, the words “Ocean of Love” must definitely be written. This is the love of the unlimited Mother and Father. It is of Him that they say: “Through Your mercy we receive limitless happiness”, but they don’t know this. Now the Father says: By knowing Me, you will come to know everything. Only I explain the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. It is not just a question of one birth, because He knows the past, present and future of the whole world. So, how much should enter your intellects? Those who do not become soul conscious cannot imbibe this knowledge. Body consciousness has continued for the whole cycle. Even in the golden age, there is no knowledge of God. You forget the knowledge of God when you come down here to play your parts. You do understand that a soul sheds one body and takes another. However, there is no question of sorrow there. The Father’s praise is that He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Love. The one drop is: Manmanabhav and Madhyajibhav. By receiving this drop, you are able to go across the ocean of poison into the ocean of milk. People say that rivers of milk and ghee flow in heaven. All of that is just praise. How can there be rivers of milk and ghee? After a rainfall, only water would flow. Where would ghee come from? That is just an indication of the richness there. You also understand what is known as heaven. Although there is a model of heaven in Ajmer, no one knows anything. You can explain to anyone and they will understand very quickly. Just as the Father has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world, in the same way, this should spin in the intellects of you children too. You have to give the Father’s introduction. You have to relate His praise accurately. His praise is limitless. Not everyone can be the same. Each one has received his own part. As you go further, you will see in a practical way whatever Baba showed you happening in divine visions. He continues to give you visions of establishment and destruction. Arjuna was also granted visions which he later saw in a practical way. You too will see destruction with your physical eyes. You have had visions of Paradise. Those visions will come to an end when you go there in a practical way. Very good things are being explained, which you children have to explain to others. Brothers and sisters: Come and claim your inheritance from Baba through this knowledge and yoga. Baba is correcting the invitation letter. At the bottom, He signed it: We are present on Godly service, using our minds, bodies and wealth for this task. As time goes by, there will be praise. Those who claimed their inheritance a cycle ago will definitely come. However, you do have to make effort. Then, your degree of happiness will gradually rise and that happiness will remain stable and you will not wilt again and again. Many storms will come but you have to overcome them. Continue to follow shrimat. Also stay in connection with others. Until you give Baba the proof of service, Baba cannot engage you fully in this service. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Pay full attention to shrimat and bring benefit to yourself and others. Become merciful and enable everyone to go on this true pilgrimage.
  2. Follow every order Baba gives you. Definitely keep a chart of your remembrance and service. Spin the discus of self-realisation.
Blessing: May you be raazyukt, yuktiyukt and yogyukt and please the Lord with your honest heart.
BapDada’s title s are Dilwala (Conqueror of Hearts) and Dilaram (Comforter of Hearts). The children who have honest hearts please the Lord. Those who remember the Father in their hearts easily become the point form. They especially become worthy of the Father’s blessings. With the power of truth and according to the time, their brains automatically work accurately in a yuktiyukt manner. They please God and so their every thought, word and deed is accurate. They become raazyukt, yuktiyukt and yogyukt.
Slogan: Remain constantly merged in the Father’s love and you will be safe from all the many types of sorrow and deception.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 November 2018

To Read Murli 19 November 2018 :- Click Here
20-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – याद रूपी दवाई से स्वयं को एवर निरोगी बनाओ, याद और स्वदर्शन चक्र फिराने की आदत डालो तो विकर्माजीत बन जायेंगे
प्रश्नः- जिन बच्चों को अपनी उन्नति का सदा ख्याल रहता है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनकी हर एक्ट सदा श्रीमत के आधार पर होगी। बाप की श्रीमत है – बच्चे, देह-अभिमान में न आओ, याद की यात्रा का चार्ट रखो। अपने हिसाब-किताब का पोतामेल रखो। चेक करो – कितना समय हम बाबा की याद में रहे, कितना समय किसको समझाया?
गीत:- तू प्यार का सागर है…….. 

ओम् शान्ति। यहाँ जब बैठते हो तो बाप की याद में बैठना है। माया बहुतों को याद करने नहीं देती क्योंकि देह-अभिमानी हैं। कोई को मित्र-सम्बन्धी, कोई को खान-पान आदि याद आता रहता है। यहाँ जब आते हो तो बाप का आह्वान करना चाहिए। जैसे लक्ष्मी की पूजा होती है तो लक्ष्मी का आह्वान करते हैं, लक्ष्मी कोई आती नहीं है। यह सिर्फ कहा जाता है तो तुम भी बाप को याद करो अथवा आह्वान करो, बात एक ही है। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। धारणा नहीं होती है क्योंकि विकर्म बहुत किये हुए हैं, जिस कारण बाप को भी याद नहीं कर सकते हैं। जितना बाप को याद करेंगे उतना विकर्माजीत बनेंगे, हेल्थ मिलेगी। है बहुत सहज, परन्तु माया अथवा पास्ट के विकर्म रूकावट डालते हैं। बाप कहते हैं तुमने आधाकल्प अयथार्थ याद किया है। अभी तो प्रैक्टिकल में आह्वान करते हो क्योंकि जानते हो आने वाला है, मुरली सुनाने वाला है। परन्तु यह याद की आदत पड़ जानी चाहिए। एवर निरोगी बनाने लिए सर्जन दवाई देते हैं कि मुझे याद करो। फिर तुम मेरे से आकर मिलेंगे। मुझे याद करने से ही वर्सा पायेंगे। बाप और स्वीटहोम को याद करना है। जहाँ जाना है, वह बुद्धि में रखना है। बाप ही यहाँ आकर सच्चा पैगाम देते हैं, और कोई भी ईश्वर का पैगाम नहीं देते हैं। वह तो यहाँ स्टेज पर पार्ट बजाने आते हैं और ईश्वर को भूल जाते हैं। ईश्वर का पता नहीं रहता है। उनको वास्तव में पैगम्बर, मैसेन्जर कह नहीं सकते। यह तो मनुष्यों ने नाम लगाये हैं। वह तो यहाँ आते हैं, उनको अपना पार्ट बजाना है। तो याद फिर कैसे करेंगे? पार्ट बजाते पतित बनना ही है। फिर अन्त में पावन बनना है। पावन तो बाप ही आकर बनाते हैं। बाप की याद से ही पावन बनना है। बाप कहते हैं पावन बनने का एक ही उपाय है – देह सहित जो भी देह के सम्बन्ध हैं, उनको भूल जाना है।

तुम जानते हो मुझ आत्मा को याद करने का फ़रमान मिला है। उस पर चलने से ही फ़रमानबरदार कहा जायेगा। जो जितना पुरुषार्थ करते हैं उतना फ़रमानबरदार है। याद कम करते तो कम फ़रमानबरदार हैं। फ़रमानबरदार पद भी ऊंच पाते हैं। बाप का फ़रमान है – एक तो मुझ बाप को याद करो, दूसरा नॉलेज को धारण करो। याद नहीं करते तो सजायें बहुत खानी पड़ती। स्वदर्शन चक्र फिराते रहेंगे तो बहुत धन मिलेगा। भगवानुवाच – मुझे याद करो और स्वदर्शन चक्र फिराओ अर्थात् ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानो। मेरे द्वारा मुझे भी जानो और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का चक्र भी जानो। दो बातें मुख्य हैं। इस पर अटेन्शन देना है। श्रीमत पर पूरा अटेन्शन देंगे तो ऊंच पद पायेंगे। रहमदिल बनना है, सबको रास्ता बताना है, कल्याण करना है। मित्र-सम्बन्धियों आदि को सच्ची यात्रा पर ले जाने की युक्ति रचनी है। वह हैं जिस्मानी यात्रायें, यह है रूहानी यात्रा। यह प्रीचुअल नॉलेज कोई के पास नहीं है। वह है सब शास्त्रों की फिलॉसाफी। यह है प्रीचुअल रूहानी नॉलेज। सुप्रीम रूह यह नॉलेज देते ही हैं रूहों को समझाकर वापस ले जाने के लिए।

कई बच्चे यहाँ आकर बैठते हैं तो कोई लाचारी बैठते हैं। अपनी स्व-उन्नति का कुछ भी ख्याल नहीं है। देह-अभिमान बहुत है। देही-अभिमानी हो तो रहमदिल बनें, श्रीमत पर चलें। फ़रमानबरदार नहीं हैं। बाप कहते हैं अपना चार्ट लिखो – कितना समय याद करते हैं? किस-किस समय याद करते हैं? आगे चार्ट रखते थे। अच्छा बाबा को न भेजो, अपने पास तो चार्ट रखो। अपनी शक्ल देखनी है – हम लक्ष्मी को वरने लायक बनें हैं? व्यापारी लोग अपने पास पोतामेल रखते हैं, कोई-कोई मनुष्य अपनी सारे दिन की दिनचर्या लिखते हैं। एक हॉबी रहती है लिखने की। यह हिसाब-किताब रखना तो बहुत अच्छी बात है कि कितना समय हम बाबा की याद में रहे? कितना समय किसको समझाया? ऐसा चार्ट रखें तो बहुत उन्नति हो जाए। बाप राय देते हैं ऐसे-ऐसे करो। बच्चों को अपनी उन्नति करनी है। माला का दाना जो बनते हैं उनको पुरुषार्थ बहुत करना है। बाबा ने कहा था – ब्राह्मणों की माला अभी नहीं बन सकती है, अन्त में बनेगी, जब रूद्र की माला बनेगी। ब्राह्मणों की माला के दाने बदलते रहते हैं। आज जो 3-4 नम्बर में हैं, कल वह लास्ट में चले जाते हैं। कितना फ़र्क हो जाता। कोई गिरते हैं तो दुर्गति को पा लेते। माला से तो गये, प्रजा में भी बिल्कुल चण्डाल जाकर बनते हैं। अगर माला में पिरोना है तो उसके लिए बड़ी मेहनत करनी पड़े। बाबा बहुत अच्छी राय देते हैं – अपनी उन्नति कैसे करो? सबके लिए कहते हैं। भल कोई गूँगा होते भी इशारे से कोई को बाप की याद दिला सकते हैं। बोलने वाले से ऊंचा जा सकते हैं। अंधे लूले कैसे भी हों तन्दरूस्त से भी जास्ती पद पा सकते हैं। सेकेण्ड में इशारा दिया जाता है। सेकेण्ड में जीवन-मुक्ति गाई हुई है ना। बाप का बना और वर्सा तो मिल ही जायेगा। फिर उसमें नम्बरवार पद जरूर हैं। बच्चा पैदा हुआ और वर्से का हकदार बन जाता है। यहाँ तुम आत्मा तो हो ही मेल्स। तो फादर से वर्से का हक लेना है। सारा मदार पुरुषार्थ के ऊपर है। फिर कहेंगे कल्प पहले भी ऐसे पुरुषार्थ किया था। माया के साथ बॉक्सिंग है। पाण्डवों की थी ही माया रावण से लड़ाई। कोई तो पुरुषार्थ कर विश्व के मालिक डबल सिरताज बनते हैं, कोई फिर प्रजा में भी नौकर चाकर बनते हैं। सभी यहाँ पढ़ रहे हैं। राजधानी स्थापन हो रही है, अटेन्शन जरूर आगे वाले दानों तरफ जायेगा। 8 दाने कैसे चल रहे हैं, पुरुषार्थ से मालूम पड़ता है। ऐसे नहीं, अन्तर्यामी हैं, सबके अन्दर को रीड करते हैं। नहीं, अन्तर्यामी माना जानी जाननहार। ऐसे नहीं कि हर एक के दिल की बात बैठकर जानते हैं। जानी जाननहार अर्थात् नॉलेजफुल है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। एक-एक की दिल को थोड़ेही बैठ रीड करेंगे। मुझे थॉट रीडर समझा है क्या? मै जानीजाननहार हूँ अर्थात् नॉलेजफुल हूँ। पास्ट, प्रेजन्ट, फ्यूचर को ही सृष्टि का आदि, मध्य, अन्त कहा जाता है। यह चक्र कैसे रिपीट होता है, उसकी रिपीटेशन को जानता हूँ। वह नॉलेज तुम बच्चों को पढ़ाने आता हूँ। हर एक समझ सकते हैं कि कौन कितनी सर्विस करते हैं, क्या पढ़ते हैं? ऐसे नहीं कि बाबा एक-एक को बैठ जानते हैं। बाबा सिर्फ यह धन्धा थोड़ेही बैठ करेंगे। वह तो जानी जाननहार मनुष्य सृष्टि का बीजरूप, नॉलेजफुल है। कहते हैं मनुष्य सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त और जो मुख्य एक्टर्स हैं उनको जानता हूँ। बाकी तो अथाह रचना है। यह जानी-जाननहार अक्षर तो पुराना है। हम तो जो नॉलेज जानता हूँ वह तुमको पढ़ाता हूँ। बाकी तुम क्या-क्या करते हो वह सारा दिन बैठकर देखूँगा क्या? मैं तो सहज राजयोग और ज्ञान सिखलाने आता हूँ। बाप कहेंगे बच्चे तो बहुत हैं, मैं बच्चों के आगे प्रत्यक्ष हुआ हूँ। सारी कारोबार बच्चों से है। जो मेरे बच्चे बनते हैं उनका मैं बाप हूँ। फिर वह सगा है वा लगा है सो मैं समझ सकता हूँ। हर एक की पढ़ाई है। श्रीमत पर एक्ट में आना है। कल्याणकारी बनना है। तुम बच्चे जानते हो बृह्स्पति को वृक्षपति डे कहा जाता है। वृक्षपति भी ठहरा, शिव भी ठहरा। है तो एक ही। गुरूवार के दिन स्कूल में बैठते हैं तो गुरू करते हैं। जैसे सोमनाथ का दिन सोमवार है, शिवबाबा सोमरस पिलाते हैं। यूँ नाम तो उनका शिव है परन्तु पढ़ाते हैं इसलिए सोमनाथ कह दिया है। रूद्र भी सोमनाथ को कहा जाता है। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा तो ज्ञान सुनाने वाला हो गया। नाम बहुत रख दिये हैं। तो उसकी समझानी दी जाती है। शुरू से यह एक ही यज्ञ चलता है, किसी को भी पता नहीं है कि सारी पुरानी सृष्टि की सामग्री इस यज्ञ में स्वाहा होनी है। जो भी मनुष्य हैं, जो कुछ भी है, तत्वों सहित सब परिवर्तन होना है। यह भी बच्चों को देखना है, देखने वाले बड़े महावीर चाहिए। कुछ हो जाए, भूलना नहीं है। मनुष्य तो हाय-हाय, त्राहि-त्राहि करते रहेंगे। पहले-पहले तो समझाना है थोड़ा ख्याल करो, सतयुग में एक ही भारत था, मनुष्य बहुत थोड़े थे, एक धर्म था, अभी कलियुग अन्त तक कितने धर्म हैं! यह कहाँ तक चलेंगे? कलियुग के बाद जरूर सतयुग होगा। अभी सतयुग की स्थापना कौन करेगा? रचता तो बाप ही है। सतयुग की स्थापना और कलियुग का विनाश होता है। यह विनाश सामने खड़ा है। अभी तुम्हें बाप द्वारा पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर का नॉलेज मिला है। यह स्वदर्शन चक्र फिराना है। बाप और बाप की रचना को याद करना है। कितनी सहज बात है।

गीत:- तू प्यार का सागर है…..

चित्रों में ओशन ऑफ नॉलेज, ओशन ऑफ ब्लिस लिखते हैं, उसमें ओशन ऑफ लव अक्षर जरूर आना चाहिए। बाप की महिमा बिल्कुल अलग है। सर्वव्यापी कहने से महिमा को ही ख़त्म कर देते हैं। तो ओशन ऑफ लव अक्षर जरूर लिखना है, यह बेहद के माँ-बाप का प्यार है, जिसके लिए ही गाते हैं तुम्हरी कृपा से सुख घनेरे, परन्तु जानते नहीं हैं। अब बाप कहते हैं तुम मेरे को जानने से सब कुछ जान जायेगे। मैं ही सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान समझाऊंगा। एक जन्म की बात नहीं, सारे सृष्टि के पास्ट, प्रेजन्ट, फ्यूचर को जानते हैं, तो कितना बुद्धि में आना चाहिए। जो देही-अभिमानी नहीं बनते हैं उन्हें धारणा भी नहीं होती है। सारा कल्प देह-अभिमान चला है। सतयुग में भी परमात्मा का ज्ञान नहीं रहता। यहाँ पार्ट बजाने आये और परमात्मा का ज्ञान भूल गये। यह तो समझते हैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। परन्तु वहाँ दु:ख की बात नहीं है। यह बाप की महिमा है, ज्ञान का सागर, प्रेम का सागर है। एक बूँद है मन्मनाभव, मध्याजी भव…….. यह मिलने से हम विषय सागर से क्षीरसागर में चले जाते हैं। कहते हैं ना – स्वर्ग में दूध-घी की नदियाँ बहती हैं। यह सब महिमा है। बाकी नदी कोई दूध-घी की थोड़ेही हो सकती है। बरसात में तो पानी निकलेगा। घी कहाँ से निकलेगा! यह बड़ाई दी हुई है। यह भी तुम जानते हो स्वर्ग किसको कहा जाता है। भल अजमेर में मॉडल है परन्तु समझते कुछ भी नहीं। तुम कोई को भी समझाओ तो झट समझ जायेंगे। जैसे बाप को आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान है वैसे तुम बच्चों की बुद्धि में भी फिरना चाहिए। बाप का परिचय देना है, एक्यूरेट महिमा सुनानी है, उनकी महिमा अपरमपार है। सब एक समान नहीं हो सकते। हर एक को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। आगे चल देखेंगे, दिव्य दृष्टि में जो बाबा ने दिखाया है वह फिर प्रैक्टिकल होना है। स्थापना और विनाश का साक्षात्कार कराते रहते हैं। अर्जुन को भी दिव्य दृष्टि से साक्षात्कार कराया था फिर प्रैक्टिकल में देखा। तुम भी इन ऑखों से विनाश देखेंगे। वैकुण्ठ का साक्षात्कार किया है, वह भी जब प्रैक्टिकल में जायेंगे तो फिर साक्षात्कार बन्द हो जायेगा। कितनी अच्छी-अच्छी बातें समझाते हैं, जो फिर बच्चों को औरों को समझानी है – बहनों-भाइयों आकर ऐसे बाबा से वर्सा लो, इस ज्ञान और योग के द्वारा।

बाबा निमंत्रण पत्र को करेक्ट कर रहे हैं। नीचे सही करते हैं तन-मन-धन से ईश्वरीय सेवा पर उपस्थित हैं, इस कार्य के लिए। आगे चल महिमा तो निकलनी है। कल्प पहले जिन्होंने वर्सा लिया है, उनको आना ही है। मेहनत करनी है। फिर खुशी का पारा चढ़ते-चढ़ते स्थाई बन जायेगा। फिर घड़ी-घड़ी मुरझायेंगे नहीं। त़ूफान तो बहुत आयेंगे, उनको पार करना है। श्रीमत पर चलते रहो। व्यवहार भी करना है। जब तक सर्विस का सबूत नहीं देते तब तक बाबा इस सर्विस में लगा नहीं सकते। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर पूरा अटेन्शन देकर अपना और दूसरों का कल्याण करना है। सबको सच्ची यात्रा करानी है, रहमदिल बनना है।

2) बाप के हर फ़रमान को पालन करना है। याद वा सेवा का चार्ट जरूर रखना है। स्वदर्शन चक्र फिराना है।

वरदान:- सच्ची दिल से साहेब को राज़ी करने वाले राज़युक्त, युक्तियुक्त, योगयुक्त भव
बापदादा का टाइटल दिलवाला, दिलाराम है। जो सच्ची दिल वाले बच्चे हैं उन पर साहेब राज़ी हो जाता है। दिल से बाप को याद करने वाले सहज ही बिन्दु रूप बन सकते हैं। वह बाप की विशेष दुआओं के पात्र बन जाते हैं। सच्चाई की शक्ति से समय प्रमाण उनका दिमाग युक्तियुक्त, यथार्थ कार्य स्वत: ही करता है। भगवान को राज़ी किया हुआ है इसलिए हर संकल्प, बोल और कर्म यथार्थ होता है। वह राजयुक्त, युक्तियुक्त, योगयुक्त बन जाते हैं।
स्लोगन:- बाप के लव में सदा लीन रहो तो अनेक प्रकार के दुख और धोखे से बच जायेंगे।

TODAY MURLI 20 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 November 2017 :- Click Here

20/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, now follow shrimat and stop the wandering of your mind and intellect. Forge a relationship with the one Father and connect your intellect in yoga to Him and all bondages will then end.
Question: Which effort that isn’t made throughout the whole cycle does the Father inspire you to make at the confluence age?
Answer: It is now that the Father inspires you to make effort to remove your intellect’s yoga from all bondages and connect it in relationship (to the Father). It is only at this time that this relationship pulls you from the one side and bondages pull you from the other side. This war continues to take place. This is the only time for coming out of devilish bondage and having a Godly relationship because it is only at this time that you know God accurately. By calling God omnipresent, instead of forging a relationship, you break the relationship and your intellect becomes non-loving. This is why it is only when you have accurate recognition that you make effort to have a relationship.
Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. The minds and intellects of human beings, that is, the minds and intellects of souls continue to wander in many types of illusion. Here, you children are making effort to become free from the many types of wandering. The soul says: My mind is wandering. The Father says: There is now no need for you to wander. Having been wandering for half the cycle, your mind and intellect have become distressed. Now follow shrimat and stop the wandering of your mind and intellect. Connect your intellect in yoga to just the One. By being body conscious, you have wandered a great deal. There are many types of bondage of friends and relatives. The Father says: Renounce all of those and forge a relationship with the One. You say: My mind wanders a great deal. It cannot be forged in a relationship with One. We want to have very firm yoga with our sweetest unlimited Father who gives us happiness so that our intellects do not wander anywhere else. The Father says: For half the cycle, you have been wandering around and becoming distressed by following devilish dictates. Now stop this wandering! When you forget that you are a soul, you believe yourself to be a body. So, you then have relationships with bodies. Baba doesn’t tell you to break away, but, while in bondage in this land of death, remember this Godly relationship. That is bondage whereas the other is a relationship. There is sorrow in bondage and happiness in relationships. Bondage and relationship are both separate. The word ‘bondage’ is connected with the old world and the word ‘relationship’ is connected with the new world. You are now going to become the masters of the new world and so you must forge a relationship with the new world. While in that bondage, you have to make effort for this relationship. With whom do you have to keep a relationship? There isn’t anyone else who would say, “Manmanabhav, madhyajibhav”, or, “Forge a relationship with the unlimited Father and the inheritance of unlimited happiness.” Only the Father enables you to forge this relationship. No human being can inspire you to make the effort to free yourself from bondage. It is only the one Father who liberates you from bondage and takes you into a relationship. There is bondage in Maya, Ravan’s kingdom, and relationship in Rama’s kingdom or God’s kingdom. That is called the Godly kingdom and this is called the devilish kingdom. Because God establishes the golden age, He continues to inspire you children to make effort to claim a high status in that. You are now at the confluence age. It is only at the confluence age that you make effort for a new relationship. You don’t make this effort in any other age. The Father says: I come and liberate you from bondage and enable you to connect your intellects in yoga in this relationship. You receive the reward of new relationships in the golden age on the basis of the effort made at this time. How can those who don’t even know the relationship make any effort? It is certain that the relationship would pull you from one side and the bondage would pull you from the other side. This tug of war takes place. There is no question of relationship in the golden and silver ages. There is no question of relationship in the copper and iron ages either. It is only at the confluence age that there is attention paid to relationships and bondages. You now know that you are going from devilish bondage into Godly relationship. The confluence age is the age for making effort. Only you are aware of bondage and relationship. It was Ravan who brought you into devilish bondage. God now takes you into Godly relationship. The Father enables you to connect your intellects in yoga to Him through which you become the masters of heaven. All the effort that people make in devotion is inaccurate. It is only the Supreme Father who enables you to make accurate effort. You can’t have any relationship with God through the concept of omnipresence. In fact, it would break any relationship even more. You have now connected your intellects in yoga to the one Father and you are making effort for the kingdom of heaven, Paradise. In the scripture, it is written that God speaks to Arjuna. There wouldn’t be just one Arjuna. God would have taught Raja Yoga to many. How else would the kingdom of heaven been established? There aren’t any other human beings in the world who would say that they are making effort for their many future births. Only you Brahmins can do this. You have the faith that your deity kingdom is definitely going to be established according to the drama. Even if we don’t want it, it will definitely happen. It is impossible for it not to be established. The drama will definitely enable it to be established. The drama will definitely enable us to make effort, exactly as it did in the previous cycle. However, you do have to follow shrimat. You mustn’t just say that it is the drama and follow your own dictates. You know that, according to the drama, Bharat definitely has to become heaven, but in order to claim a high status, you are inspired to make effort by following shrimat. You are also shown the time. According to the dramaplan, the Father has come. He says: This confluence age is the age to make effort. You have to become pure from impure. There is a lot of praise of the confluence age. That is a confluence of the ocean with the rivers whereas your confluence takes place at this time. The Father says: I come every cycle at this confluence age. The whole world definitely has to become impure. Then, from impure, the world definitely has to become pure. All human beings have to settle their karmic accounts and definitely become pure. This is the time of settlement. Without becoming pure, none of the brides can follow the Bridegroom, the Supreme Father, the Supreme Soul. You have seen that when locusts fly, they have a leader and that the whole swarm flies following that leader. It is the same here. The Bridegroom has come to make you beautiful. You will all become pure and then, when I go back, all of you many souls, the brides – the whole lot, will follow Me. You brides know that you will shed your bodies and run after the Bridegroom. God is One and devotees are many. Some believe in one and others believe in someone else. Some say that the world was never created. Whoever said something, others believed it. The dictates of the self and the dictates of human beings are called illusion. The Father comes and liberates you from all illusions. This is the land of sorrow. You are now receiving shrimat to go to the land of happiness. You are receiving directions from the incorporeal Father. You can never receive shrimat from corporeal human beings. In Ravan’s kingdom, no one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can give shrimat to the devilish community through which they can become elevated. Day by day, human beings become even more corrupt. It is the stage of descent for all of them, whereas for you, it is the stage of ascent. From Brahmins you are becoming deities and then your stage of descent begins. From deities, you become warriors, merchants and shudras. It is now your stage of ascent. Due to your stage of ascent there is benefit for all. All will go to the land of liberation and you will go to the land of liberation-in-life. Bharat never becomes empty. When it is heaven, there are no other lands in existence. Those of Islam and the Buddhists come later. Before them, there was the moon-dynasty kingdom of Rama. Before that, there was the sun-dynasty kingdom of Lakshmi and Narayan. Before Christ, there were the Buddhists. When the Buddhists weren’t there, there were those of Islam. When those of Islam weren’t there, there was the kingdom of Rama. Before that, there was the sun dynasty. Neither the sun nor the moon dynasty exists now. The Father comes and establishes three religions. You true Brahmins, who are the mouth-born creation of Brahma, are making effort to become deities. Shudras don’t make effort. It is only you Brahmins who receive shrimat through Brahma. It is by following it that you become elevated deities. There is only a short time left; destruction is about to come. Conditions continue to grow worse. It won’t take time to get worse. If one of them drops a bomb, others will retaliate, likewise. You come back having seen the subtle region, the incorporeal world and Paradise; you have visions. You have visions of the land of Krishna too, but you cannot go there now. The time to go there is when Shiv Baba takes you with Him, otherwise, you just have a vision of it. You have now forged a relationship with Me, God. Your back is towards Ravan’s kingdom and you are facing Rama’s kingdom. You are now in the Brahmin clan. These clans are imperishable. Brahmins, the children of Prajapita Brahma, are definitely needed. You Brahmins receive your inheritance from the Grandfather. It is Shiv Baba who establishes heaven and teaches you Raja Yoga. This Godly inheritance lasts for half the cycle and you then receive a devilish inheritance. The ascending stage (stage of righteousness) finishes after 21 births. Then the devilish kingdom begins. Ravan is the Devil. The Supreme Father, the Supreme Soul, is said to be like a point. The world doesn’t know what the form of Shiva is. They think that He is such a big lingam image. Baba says: Just as the form of you souls is a point, in the same way, I, the Supreme Soul, also have the form of a point. Just as you are sparkling stars, I too am a sparkling star. I always reside in the supreme abode and I don’t enter rebirth. You enter rebirth. I am the Purifier and so I definitely have to stay in the supreme abode. I am now purifying you. This is such a great temptation. (You have so much attainment.) You become the masters of the world for 21 births. The old world simply has to be removed from your intellect’s yoga. It is said that this child or this wealth has been given by God. The Father says: Now, all of that is to end. All of that is nothing. Break your attachment away from all of those things. What would God do with anything He took from you? Just break your attachment from it. That is very little. In return, I give you the inheritance of heaven! Just as when a father builds a new house, your attachment to the old one is removed and connected to the new one, so you children know that this old world is definitely going to be burnt. We now have to go to the new world. This is why you have to end your attachment here and connect it to the new one. After the iron age, the golden age has to come. Just as day follows night and night follows day, so this is a matter of the unlimited day and night. For half the cycle, there is the reward of knowledge and for half the cycle, there is devotion. When you become tamopradhan and reach your state of total decay, it is then that I come. Now, even devotion is adulterated: you have said that I am in every particle and in the pebbles and stones. Stones are used for worship. They call a stone Shiva. They have made stone images to worship. There is a lot of paraphernalia of the path of devotion. You have been holding sacrificial fires, doing tapasya, chanting, going on pilgrimages and reading the scriptures for birth after birth. The Father says: You cannot attain Me through any of those things. You yourselves say: O Purifier, come! Impure souls cannot go there. It is explained very well and there is also the song: Just have a little bit more patience, continue to follow shrimat and all your sorrow will end and you will become the masters of the world for 21 births. It is only the one parlokik Father who gives you your inheritance of heaven. There is no question of sorrow there. You have come to claim your inheritance from the Father after 5000 years. Those who hear even a little knowledge will also go to heaven, but they won’t be able to claim a high status. To the extent that you stay in yoga, so you will accordingly continue to become pure and claim a high status. You have to stay in remembrance of Shiv Baba and spin the discus of self-realisation; you also have to explain to others. You will receive a very high status through this. The Father says: Even sinners like Ajamil are uplifted with this remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While in bondage in the land of death, remember the relationships of happiness. Consider yourself to be a soul and stop the wandering of your mind and intellect.
  2. The old world is to end and you must therefore break your attachment from it. In order to remove your intellect’s yoga from all illusions, follow shrimat.
Blessing: May you be full of the treasure of happiness and experience God’s love by staying away from waves of sorrow.
At the confluence age, many types of waves of sorrow will come in front of you, but do not let those waves of sorrow make you unhappy inside. Just as in hot weather, it will be hot, and it is up to you to protect yourself, so too, even while hearing of sorrowful situations, let these not affect your heart. When you remain beyond such waves of sorrow, you will then be loved by God. Those who are detached and loved by God remain filled with the treasure of happiness.
Slogan: Those who easily recognise the many forms of Maya are trikaldarshi and trinetri.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 18 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 19 November 2017 :- Click Here
20/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अब श्रीमत पर मन और बुद्धि को भटकाना बंद करो, एक बाप से सम्बन्ध जोड़ बुद्धियोग लगाओ तो सब बंधन समाप्त हो जायेंगे”
प्रश्नः- बाप संगम पर तुम्हें कौन सा पुरुषार्थ कराते हैं, जो सारे कल्प में नहीं होता है?
उत्तर:- बंधनों से बुद्धियोग निकाल सम्बन्ध से बुद्धियोग जोड़ने का पुरुषार्थ अभी बाप तुम्हें कराते हैं। इस समय ही एक तरफ तुम्हें सम्बन्ध खींचता तो दूसरे तरफ बंधन। यह युद्व चलती रहती है। आसुरी बंधन से ईश्वरीय सम्बन्ध में आने का यही समय है क्योंकि ईश्वर को यथार्थ रूप से तुम अभी जानते हो। ईश्वर को सर्वव्यापी कहने से सम्बन्ध ज़ुड़ने के बजाए टूट जाता है, बुद्धि विपरीत हो जाती है इसलिए जब यथार्थ पहचान मिली तो सम्बन्ध में आने का पुरुषार्थ करो।
गीत:- धीरज धर मनुआ …

ओम् शान्ति। मनुष्य मात्र का मन और बुद्धि अर्थात् आत्मा का जो मन और बुद्धि है वह अनेक प्रकारों के भ्रमों में भटकता रहता है। यहाँ तुम बच्चे अनेक प्रकार के भटकने से छूटने का पुरुषार्थ कर रहे हो। आत्मा कहती है मेरा मन भटकता है। अब बाप कहते हैं तुमको भटकने की दरकार नहीं है। आधाकल्प तुम्हारा मन बुद्धि भटकते-भटकते हैरान हो गया। अब श्रीमत पर मन बुद्धि को भटकाना बन्द करो। एक तरफ बुद्धि का योग लगाओ, देह-अभिमान में आकर बहुत भटके हो। अनेक प्रकार के मित्र सम्बन्धियों आदि का बंधन रहता है। बाप कहते हैं – उन सबको छोड़ो, एक के साथ सम्बन्ध जोड़ो। कहते हैं हमारा मन बहुत भटकता है। एक के सम्बन्ध में जुट नहीं सकता। हम चाहते भी हैं ऐसे मीठे-मीठे बेहद का सुख देने वाले बाप के साथ योग पक्का रखें, कहाँ भी बुद्धि भटके नहीं। बाप कहते हैं आधाकल्प से आसुरी मत पर भटकते-भटकते तुम हैरान हो गये हो। अब यह भटकना छोड़ दो। मैं आत्मा हूँ – यह भूलने से समझते हैं मैं देह हूँ। तो देहों के साथ सम्बन्ध हो जाता है। बाबा ऐसे नहीं कहते हैं कि तोड़ दो लेकिन तुम इस मृत्युलोक के बंधन में रहते हुए ईश्वरीय सम्बन्ध को याद करो। यह है बंधन, वह है सम्बन्ध। बंधन होता है दु:ख का। सम्बन्ध होता है सुख का। बंधन और सम्बन्ध दोनों अलग-अलग हैं। बंधन अक्षर पुरानी दुनिया से, सम्बन्ध अक्षर नई दुनिया से लगता है। अब तुम नई दुनिया के मालिक बनने वाले हो तो नई दुनिया के साथ सम्बन्ध जोड़ो। इस बंधन में रहते हुए सम्बन्ध के लिए पुरुषार्थ करना है। सम्बन्ध किसके साथ रखना है? ऐसा तो कोई है नहीं जो कहे मनमनाभव, मध्याजी भव और कहे कि बेहद के बाप से और बेहद सुख के वर्से से सम्बन्ध रखो। बाप ही यह सम्बन्ध जुड़ाते हैं। जब तुम बंधन में हो तो तुमको पुरुषार्थ कराने वाला कोई मनुष्य नहीं है। एक ही बाप है जो बंधन से छुड़ाकर सम्बन्ध में ले जाते हैं। बंधन है मायावी राज्य में, सम्बन्ध है रामराज्य में वा ईश्वरीय राज्य में, उनको ईश्वरीय राज्य और इनको आसुरी राज्य कहा जाता है क्योंकि सतयुग ईश्वर स्थापन करते हैं। उसमें ऊंच पद पाने के लिए तुम बच्चों को पुरुषार्थ कराते रहते हैं। अब तुम संगमयुग पर हो। सिर्फ संगम पर ही सम्बन्ध का पुरुषार्थ होता है और कोई युग में यह पुरुषार्थ नहीं होता।

बाप कहते हैं मैं आकर बंधन से छुड़ाए सम्बन्ध में बुद्धियोग लगवाता हूँ। सतयुग में नये सम्बन्ध की प्रालब्ध अभी के पुरुषार्थ से मिलती है। जो सम्बन्ध को जानते ही नहीं तो पुरुषार्थ कैसे करेंगे। यह तो जरूर होगा, एक तरफ सम्बन्ध खींचेगा दूसरे तरफ बंधन खींचेगा। यह लड़ाई होती है। सतयुग, त्रेता में सम्बन्ध की बात ही नहीं। द्वापर, कलियुग में भी सम्बन्ध की बात नहीं। संगम पर ही सम्बन्ध और बंधन का ध्यान रहता है। अब तुम जानते हो आसुरी बंधन से ईश्वरीय सम्बन्ध में जा रहे हैं। संगम है ही पुरुषार्थ का युग। तुमको ही बंधन और सम्बन्ध का पता है। आसुरी बंधन में रावण ने लाया। ईश्वर फिर ईश्वरीय सम्बन्ध में ले जाते हैं। बाप तुम्हारा बुद्धियोग अपने साथ जोड़ते हैं, जिससे तुम स्वर्ग के मालिक बनते हो। भक्ति में जो पुरुषार्थ करते हैं वह है अयथार्थ। यथार्थ पुरुषार्थ परमपिता ही कराते हैं। सर्वव्यापी के ज्ञान से परमात्मा से सम्बन्ध नहीं हो सकता और ही टूट पड़ता है। अब तुमने एक बाप के साथ बुद्धियोग जोड़ा है और स्वर्ग वैकुण्ठ की राजाई के लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। शास्त्रों में तो भगवानुवाच अर्जुन के प्रति लिख दिया है। सिर्फ एक अर्जुन थोड़ेही होगा। भगवान ने राजयोग तो बहुतों को सिखाया होगा ना। नहीं तो स्वर्ग की राजधानी कैसे स्थापन हो। दुनिया में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो कहे कि हम भविष्य जन्म-जन्मान्तर के लिए पुरुषार्थ करते है। यह सिर्फ तुम ब्राह्मण ही कर सकते हो। यह निश्चय है कि हमारी दैवी राजधानी ड्रामा अनुसार जरूर स्थापन होनी ही है। हम न चाहें तो भी जरूर होगी। इम्पासिबुल है जो स्थापना न हो। ड्रामा जरूर स्थापन करायेगा। ड्रामा हमको जरूर पुरुषार्थ करायेगा, कल्प पहले मुआफिक। परन्तु चलना है श्रीमत पर। ड्रामा कहकर अपनी मत नहीं चलानी है। जानते हैं ड्रामा अनुसार भारत को स्वर्ग जरूर बनना है, फिर भी ऊंच मर्तबे के लिए श्रीमत पर पुरुषार्थ कराते हैं। टाइम भी बतलाते हैं। ड्रामा प्लेन अनुसार बाप आया है। वह कहते हैं यह संगमयुग पुरुषार्थ करने का है। पतित से पावन बनना है। संगम की बहुत महिमा है। वह है नदियों और सागर का संगम, यह संगम तो तुम्हारा अभी होता है। बाप कहते हैं मैं इस संगम युगे युगे आता हूँ। सारी दुनिया पतित जरूर बनने की है। फिर पतित से पावन दुनिया जरूर बननी है। जो भी मनुष्य मात्र हैं सबको हिसाब-किताब चुक्तू कर जरूर पावन बनना है। यह कयामत का समय है, बिगर पावन बने कोई भी सज़नी परमपिता परमात्मा साज़न के पिछाड़ी जा नहीं सकती। तुमने देखा है, मक्कड़ (टिड़ियाँ) जब उड़ती हैं तो उनका एक लीडर होता है, उनके पिछाड़ी ही सारा झुण्ड उड़ता है। यह भी ऐसे है। साज़न आया है गुल-गुल बनाने। तुम सभी पावन बन जायेंगे फिर जब मैं जाऊंगा तो तुम सभी आत्मायें सज़नियाँ ढेर के ढेर मेरे पिछाड़ी भागेंगी। तुम सजनियाँ भी जानती हो कि हम यह शरीर छोड़कर भागेंगे – साज़न के पिछाड़ी। भगवान है एक, भक्तियाँ हैं अनेक। कोई किसको मानते, कोई किसको मानते। कोई कहते हैं संसार बना ही नहीं है। जिसने जो कहा सो मान लिया, अपनी मत अथवा मनुष्य मत को भ्रम कहा जाता है। बाप आकर सभी भ्रमों से छुड़ा देते हैं। यह है ही दु:खधाम। अब सुखधाम जाने के लिए श्रीमत मिल रही है। निराकार बाप की मत मिल रही है। साकार मनुष्य से कभी श्रीमत नहीं मिल सकती है। रावण राज्य में आसुरी सम्प्रदाय को सिवाए परमपिता परमात्मा के श्रीमत कोई दे नहीं सकते, जिससे वह श्रेष्ठ बनें। दिन प्रतिदिन मनुष्य और ही भ्रष्ट होते जाते हैं। उन सबकी उतरती कला है, तुम्हारी अब चढ़ती कला है। तुम ब्राह्मण से देवता बनते हो फिर उतरती कला शुरू होती है। देवता से क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। अब चढ़ती कला है। चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। सब मुक्तिधाम में चले जायेंगे और तुम जीवनमुक्ति में चले जायेंगे। भारत कभी खाली नहीं होता। स्वर्ग जब होता है तब और खण्ड नहीं रहता। इस्लामी, बौद्धी आदि तो बाद में आते हैं। उनके पहले चन्द्रवंशी रामराज्य था। उनके पहले सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। क्राइस्ट नहीं था तो बौद्धी थे, बौद्धी नहीं थे तो इस्लामी थे। इस्लामी नहीं थे तो रामराज्य था। उनके पहले सूर्यवंशी थे। अब सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी दोनों घराने नहीं हैं। बाप आकर 3 धर्म स्थापन करते हैं। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली सच्चे ब्राह्मण देवता बनने लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। शूद्र पुरुषार्थ नहीं करते, ब्राह्मणों को ही ब्रह्मा द्वारा श्रीमत मिलती है, जिससे तुम श्रेष्ठ देवता बनते हो। बाकी थोड़ा समय है – विनाश आया कि आया। हालतें बिगड़ती रहती हैं। बिगड़ने में टाइम नहीं लगता। अगर एक ने बाम्ब चलाया तो दूसरे भी चलाने लग पड़ते। तुम सूक्ष्मवतन, मूलवतन, वैकुण्ठ देखकर आते हो। साक्षात्कार होता है। कृष्णपुरी का भी साक्षात्कार होता है, बाकी वहाँ जा नहीं सकते हैं। जाने का समय तो तब होगा जब शिवबाबा साथ में ले जायेंगे, बाकी साक्षात्कार होता है।

अब तुम्हारा मुझ ईश्वर के साथ सम्बन्ध जुटा है। तुम्हारी रावणराज्य तरफ पीठ है। मुँह है रामराज्य तरफ। अभी तुम ब्राह्मण वर्ण में हो। वर्ण अविनाशी हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण जरूर चाहिए। तुम ब्राह्मणों को वर्सा दादे से मिलता है। स्वर्ग की स्थापना करने वाला, राजयोग सिखलाने वाला शिवबाबा है। यह ईश्वरीय वर्सा आधाकल्प चलता है, फिर मिलता है आसुरी वर्सा। चढ़ती कला 21 जन्मों के बाद पूरी होगी। फिर आसुरी राज्य शुरू होगा, असुर यह रावण है। परमपिता परमात्मा को कहा जाता है बिन्दी मिसल। दुनिया यह नहीं जानती कि शिव का रूप क्या है। वह समझते हैं इतना बड़ा लिंग है। बाबा कहते हैं जैसे तुम आत्मा का रूप बिन्दी मिसल है। वैसे मुझ परमात्मा का भी रूप बिन्दी मिसल है। जैसा तुम चमकता हुआ सितारा हो, वैसे मैं भी चमकता हुआ सितारा हूँ। मैं सदैव परमधाम में रहता हूँ, जन्म-मरण में नहीं आता हूँ। तुम जन्म-मरण में आते हो। मैं पतित-पावन हूँ तो जरूर मुझे परमधाम में रहना पड़े। अभी तुमको मैं पावन बना रहा हूँ। बड़ी भारी भीती है। (प्राप्ति बहुत है) 21 जन्मों के लिए तुम विश्व के मालिक बनते हो। पुरानी दुनिया को सिर्फ बुद्धियोग से भूलना होता है। कहते भी हैं यह बच्चा अथवा यह धन ईश्वर ने दिया है। अब बाप कहते हैं कि यह सब तो अब खत्म हो जाना है। यह तो कुछ नहीं है, इससे ममत्व तोड़ दो। भगवान तुमसे लेकर क्या करेंगे? सिर्फ तुम ममत्व निकाल दो। यह तो बहुत थोड़ा है। हम तो रिटर्न में तुमको स्वर्ग का वर्सा देते हैं। जैसे बाप नया मकान बनाते हैं तो पुराने से ममत्व निकल नये से जुट जाता है। तुम बच्चे जानते हो यह पुरानी दुनिया भस्म होनी ही है। अभी हमको नई दुनिया में जाना है इसलिए ममत्व मिटाए नये में जोड़ना है। कलियुग के बाद सतयुग आना है। जैसे रात के बाद दिन और दिन के बाद रात आती है। यह फिर बेहद के दिन और रात की बात है। आधाकल्प है ज्ञान की प्रालब्ध। आधाकल्प है भक्ति। जब तमोप्रधान, जड़जड़ीभूत हो जाते हैं तब मैं आता हूँ। अभी तो भक्ति भी व्यभिचारी है। मुझे कण-कण में ठिक्कर भित्तर में कह देते हैं। पत्थर को पूजा के लिए रखते हैं। पत्थर को ही शिव कहते हैं। पूजा के लिए यह पत्थर की प्रतिमायें बनाई हैं। यह भक्ति मार्ग की सामग्री बहुत है। जन्म-जन्मान्तर यज्ञ तप तीर्थ आदि करते, शास्त्र पढ़ते आये हैं। बाप कहते हैं कि इन सबसे तुम मुझे प्राप्त नहीं कर सकते हो। तुम खुद ही कहते हो कि हे पतित-पावन आओ। पतित आत्मायें तो जा नहीं सकती। समझाते तो बहुत अच्छी तरह से हैं। गीत भी है कि अब थोड़ा धीरज धरो। श्रीमत पर चलते चलो तो तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। 21 जन्मों के लिए तुम फिर विश्व के मालिक बन जायेंगे। एक ही पारलौकिक बाप स्वर्ग का वर्सा देते हैं। वहाँ दु:ख की कोई बात नहीं। तुम 5 हजार वर्ष बाद बाप से वर्सा लेने आये हो। जो आकर थोड़ा बहुत सुनते हैं वह भी स्वर्ग में आयेंगे, परन्तु ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। जितना योग में रहेंगे उतना पवित्र होते जायेंगे और ऊंच पद पायेंगे। शिवबाबा की याद में रहना है और सृष्टि चक्र को फिराना है, दूसरों को भी समझाना है इससे बहुत ऊंच पद मिलेगा। बाप कहते हैं अजामिल जैसे पापियों का भी उद्धार हो जाता है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते ।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मृत्युलोक के बंधनों में रहते सुख के सम्बन्ध को याद करना है। अपने को आत्मा समझ मन-बुद्धि को भटकाने से छुड़ाना है।

2) पुरानी दुनिया खत्म होनी है इसलिए इससे ममत्व मिटा देना है। सब भ्रमों से बुद्धियोग निकालने के लिए श्रीमत पर चलना है।

वरदान:- दु:ख की लहरों से न्यारे रह प्रभू प्यार का अनुभव करने वाले खुशी के खजाने से सम्पन्न भव 
संगम के समय दु:ख के लहरों की कई बातें सामने आयेंगी लेकिन अपने अन्दर वो दु:ख की लहर दुखी नहीं करे। जैसे गर्मी की मौसम में गर्मी होगी लेकिन स्वयं को बचाना अपने ऊपर है। तो दुख की बातें सुनते हुए भी दिल पर उसका प्रभाव न पड़े। जब ऐसे दु:ख की लहरों से न्यारे बनो तब प्रभू का प्यारा बनेंगे। जो ऐसे न्यारे और परमात्म प्यारे हैं वही खुशियों के खजाने से सम्पन्न रहते हैं।
स्लोगन:- त्रिकालदर्शी वा त्रिनेत्री वह है जो माया के बहुरूपों को सहज ही पहचान ले।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 18 November 2017 :- Click Here

Font Resize